16 october 2017

TODAY MURLI 16 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 16 OCTOBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 15 October 2017 :- Click Here

16/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, Maya creates obstacles in yoga, not in knowledge. Unless there is yoga, the study cannot be imbibed. This is why you should make effort to stay in as much yoga as possible.
Question: Through which method does Baba uplift the children who have fallen?
Answer: Baba praises those children in class and gives them a lot of love and courage: Child, you are very good. You can become a Ganges of knowledge. You are going to become a master of the world. I have come to give you the sovereignty free of charge. Why are you not claiming it? Are there the omens of Rahu over you? Study the murli and stay in yoga and the eclipse will be removed. When the children are encouraged in this way, they become engaged in having remembrance and they study once again. The omens of many children are removed in this way.
Song: The Resident of the faraway land has come to the foreign land.

Om shanti. God speaks. There are just two expressions in the Gita that people have been listening to. In fact, the Gita scripture didn’t exist in heaven. It was later on that people sat and wrote it. So, what do the versions of God say? Children, Manmanabhav! They use the same Sanskrit expression that you have been hearing. No one understands the meaning of it. As soon as He comes, He says: Manmanabhav! If you were to say, “God Shri Krishna speaks”, would Krishna then say “Remember Me, the Supreme Soul”? That would be a lie. Here, the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, says to the saligrams: Manmanabhav! Remember Me, the Supreme Soul, because everyone is now to die. All the gurus and friends and relatives tell someone who is about to die to remember Rama, Krishna, or they place a picture of Rama, Krishna or Hanuman, or a guru in front of that person. Here, all human beings are going to die. All are in their stage of retirement. Young and old, everyone has to go to the supreme abode, beyond sound, to the silence world. That is also called the incorporeal world. That is the world of us souls. When you souls come here, you become corporeal. There are no costumes there. You adopt costumes here to play your part shere. The Father says: I have now come to take you children back home. I am the Death of all Deaths. At Amritsar, they keep “The Immortal Throne”. “Immortal” means that which doesn’t experience death. The Death of all Deaths now says: I take you back home. You then have to come down to play your part s. Whose part was played first at the beginning of the world? This world is a variety tree of religions. Everyone comes, numberwise. First is the deity religion. That religion has now vanished and the knowledge of it has also vanished. So, how could it exist in the scriptures? The easy Raja Yoga through which they became deities also vanished. However, that Gita etc. are all the paraphernalia of devotion because you receive this knowledge at this time. Its scripture doesn’t exist in the golden or silver age. So, how could it exist in the copper age? There, your true Gita doesn’t exist. Then, according to the drama, they write the same Gita on the path of devotion. It is said that, previously, the intellects of the sages and holy men were good. So they sat and created those scriptures etc. According to the drama , they had to be created. Where would the real thing come from at that time? For instance, Motilal also had a part with Gandhiji. If a play were to be created about them, where would they come from? They would make others play that role artificially. The part of Brahma, of establishment, is taking place now. It is the establishment of what? You children know that the deity religion is being established for the golden age. This is why the Father says: Remember Me, and you will come to Me. You are sitting here and so you should listen to the tape, revise the murli and stay in yoga so that your sins are absolved. Throughout the day, you remain busy with your work. There, it would be very difficult to stay in yoga. Maya creates many obstacles in this. Maya doesn’t distance you from knowledge; she distances you from yoga. Wasteful and sinful thoughts don’t allow you to stay in yoga. There aren’t as many obstacles in the study. Yes, if you are not in yoga, you won’t be able to imbibe the study. Yoga is easier than knowledge. When the old mothers tell Baba that they are unable to keep all of these points in their intellects, Baba says: OK, stay in remembrance of Me. The Father says: O devotees! All are devotees. However, you are the long-lost and now-found ones who have done devotion for the full half cycle. Not everyone performs devotion for the full time. Those who continue to come even now will perform devotion for only that length of time. However, it is only you who change from worthy of worship to worshippers. You can know this from the children. Those who become the children follow shrimat. You understand that those who have full faith that God is teaching them belong to your clan and that they are real children. Real children sacrifice themselves, whereas stepchildren don’t. There is nothing to be afraid of in this. People have been sacrificing themselves while doing devotion. They have been donating something or other in the name of God. That too is sacrificing. You say that God gave you a child or wealth. However, people don’t understand the meaning of that. You now know that the Father has been giving you the returnof your devotion for a temporary time. It is not like that in the golden age. Whatever you have continued to do in devotion doesn’t exist in the golden age. There are neither any poor ones to give donations to, nor are there any scriptures or temples. That is all the paraphernalia of devotion which doesn’t exist in the golden age. Even this knowledge vanishes. There is no effort made there for which you would receive a reward. All the reward is from the effort made at this time. The knowledge of those of Islam and the Buddhists continues all the time because there is no destruction after their establishment. Therefore, they are aware of everything. However, after your establishment, destruction takes place and so everything is destroyed in that. Then those same Vedas and scriptures will emerge in the copper age. All of them are the children of the Gita. None of them is called a religious scripture because a religious scripture is that through which a religion is established. The versions of Christ are called the versions of a m essengerChrist is not called God, the Father. He is believed to be the son of God. They say that God sent him to establish the Christian religion. Therefore, he had to sustain his own religion. He has to go through the stages of sato, rajo and tamo. He doesn’t have the knowledge that no one can return home. Achcha, Baba used to explain that they created the Gita as a memorial; it is the scripture of the deity religion, but they have made it false. The truth in that is like a pinch of salt in a sackful of flour, because they wrote it later. No one in the golden and silver ages has knowledge. They don’t understand where the golden palaces studded with diamonds went to. Why did they vanish? They say that Dwaraka sank beneath the sea, but it doesn’t go into the sea. Everything is destroyed in the earthquakes etc. and no name or trace of heaven remains. They experienced their reward and used it up. Therefore, no name or trace of it remains, nor does their history remain. They have the history of when the temples were built and when worshipping began and when Mahmud Guznavi came and how he looted the wealth of Bharat. All of this knowledge is food for the intellect. However, if your yoga isn’t right, then, although you will be happy while listening to this, nothing will stay in your intellect. If there isn’t purity it won’t remain. This is not in anyone’s control. This is not the knowledge of the scriptures. Those people learn all of that by heart. This is a study for 21 births. Although they will sit on their father’s throne, that too is the reward or income of this time. Deities don’t give an inheritance to one another and this is why the Father says: Remember Me! Death is just ahead. You have to follow Mama and Baba. Those people become followers of the sannyasis just in name. There, it is the kingdom of gods and goddesses. As are the king and queen, god and goddess, so the people, and the Father is teaching you for that. It isn’t that He will give blessings. His teaching itself is a blessing. Would you ask a teacher to give you blessings so that you receive 100% marks? Baba teaches you. This study is for everyone, whether they are Christians or Buddhists. It is said: For all religions. All of those religions are of the body. Baba says: Forget all of them and have the faith that you are a soul. All souls are immortal. You are all children of the one Father, and this is why it is said: Renounce all the bodily relations, your maternal and paternal uncles, have the faith that you are a soul alone and remember Me and your sins will be absolved. There is no other way. This is called the fire of yoga. The chit-chat in Baba’s letters is related in Madhuban at night. Baba makes everyone laugh and also encourages everyone in Madhuban by saying: You are very good. You can become a Ganges of knowledge. What! You have a job in the telephone office? You are going to become an empress. Baba would uplift even those who fall. Baba says: I know that many of you are eclipsed by the omens of Rahu. Baba receives news and so Baba uplifts them. I have come to give you the sovereignty free of charge. What has happened to you? You are eclipsed by the omens of Rahu. Stay in yoga and listen to the murli. Baba has to write such letters. Baba receives many types of letter. When someone’s heart is attached to another, they make a plan between themselves to have a pure marriage. He says: I will save you and free you from bondage. Baba says: How can you save someone? First of all, are you yourself safe from Maya? Have you taken advice from Baba? You haven’t even taken shrimat from Baba and yet you are talking about becoming engaged! So, o corpses, Maya will drag you towards her! When their hearts become attached in a subtle way, they talk in that way. Baba understands that they are going into the depths of hell. It is the parents who get their children engaged, whereas here, you fools are getting yourselves engaged secretly. You don’t even realise that obstacles come in this way. The jaggery knows and the bag that contains the jaggery knows (unrefined sugar made from the sap of palm trees). Baba knows all the children. Anyone can ask Baba: Baba, am I a real child or a stepchild? What status will I receive if I were to leave my body now? There is no guarantee for anyone’s body. A steamer could sink, an aeroplane could crash and so what would be your condition? Death is just above everyone’s head. Therefore, don’t leave anything of today for tomorrow. Otherwise, you will receive visions in the land of Dharamraj. Look, you said: “Tomorrow, tomorrow,” and now death has eaten you. By not following shrimat, you lost the royal status. If someone listens to even a little knowledge, he will go to heaven. Then, according to how much someone helps with establishment, he will receive a status accordingly. In the same way, Gandhiji was helped and so many went to jail. So many were killed. What did they receive in return? They would have taken birth to wealthy congressmen. Now very little time remains. So, what happiness would they have received? When someone has heard even a little knowledge that will not go to waste. Here, you are not told to renounce anything. Those people caused trouble because of vice. Therefore, because of such desperate circumstances, they had to leave. What could they do otherwise? So, the Father had to give them refuge. Even now, some continue to take refuge. There is no question of abducting anyone. The cowshed had to be created according to the drama. You are children, but they named this, the cowshed. They say that Krishna went across the river and so the cows must also have crossed the river. All of that refers to this time. Before getting into all of those things, first of all, take knowledge and then claim your inheritance from the Father. You may carry on with your business but, together with that, take this second course. Even while living abroad, you must definitely study the murli. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and g oo morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Forget the relations of the body and consider yourself to be a soul alone. Surrender yourself to the Father completely. You mustn’t be afraid.
  2. In order to become free from the punishment of Dharamraj, don’t leave till tomorrow what you can do today. Continue to take blessings from the Father on the basis of how you study.
Blessing: May you be constantly carefree and increase your decision power with balance in karma and yoga.
Only those whose intellects always give an accurate judgment can remain constantly carefree because, day by day, the problems and circumstancesare going to get tighter. At such a time, if you have a balance of karma and yoga, you will easily overcome any situation with your decision making power. The blessings that you receive due to maintaining a balance will not allow you to have any surprising questions arising even in your thoughts. “Why did this happen? What happened?” Such questions will not arise. There will constantly be the firm faith that benefit is hidden in whatever is happening.
Slogan: Take the sweetness of all the relationships you have with Baba and do not remember anyone else.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

Read Bk Murli 14 October 2017 :- Click Here

 

BRAHMA KUMARIS MURLI 16 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 15 October 2017 :- Click Here
om
BK murli today ~ 16/10/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली
[Web-Dorado_Zoom]
16/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – माया के विघ्न ज्ञान में नहीं, योग में पड़ते हैं, योग के बिना पढ़ाई की धारणा नहीं हो सकती, इसलिए जितना हो सके योग में रहने का पुरूषार्थ करो”
प्रश्नः- बाबा गिरे हुए बच्चों को किस विधि से ऊपर उठा लेते हैं?
उत्तर:- बाबा उन बच्चों की क्लास में महिमा करता, पुचकार ”प्यार” देता, हिम्मत दिलाता। बच्चे तुम तो बहुत अच्छे हो। तुम तो ज्ञान गंगा बन सकते हो। तुम विश्व का मालिक बनने वाले हो। मैं तो तुम्हें मुफ्त बादशाही देने आया हूँ। तुम फिर क्यों नहीं लेते? राहू का ग्रहण लगा है क्या? मुरली पढ़ो, योग में रहो तो ग्रहण उतर जायेगा। ऐसे हिम्मत दिलाने से बच्चे फिर से याद और पढ़ाई में लग जाते हैं। इस विधि से कई बच्चों की ग्रहचारी उतर जाती है।
गीत:- दूर देश का रहने वाला….

ओम् शान्ति। भगवानुवाच – दो ही अक्षर गीता के बताते हैं, जो सुनते आते हैं। यूँ गीता शास्त्र कोई स्वर्ग में था नहीं। यह तो बैठकर बाद में मनुष्यों ने बनाये हैं। तो भगवानुवाच – क्या कहते? बच्चे, मनमनाभव। अक्षर वही संस्कृत बोलते हैं जो तुम सुनते आये हो। उनका कोई अर्थ नहीं समझते। आते ही कहते हैं मनमनाभव। अगर कहे श्रीकृष्ण भगवानुवाच़ तो कृष्ण कहेंगे क्या कि मुझ परमात्मा को याद करो? तो यह झूठ हो गया ना। यहाँ परमपिता परमात्मा शिव कहते हैं सालिग्रामों को कि मनमनाभव, मुझ परमात्मा को याद करो क्योंकि अब सबका मौत है। गुरू लोग, भाई-बन्धु सब जब कोई मरने की हालत में होते हैं तो कहते हैं राम कहो, कृष्ण कहो या चित्र सामने रख देते हैं, राम का, कृष्ण का, हनूमान का, गुरू आदि का। यहाँ तो सारे मनुष्य मात्र का मौत है। सभी वानप्रस्थ अवस्था में हैं। छोटे बड़े सबको वाणी से परे परमधाम, साइलेन्स वर्ल्ड में जाना है। उसको निराकारी दुनिया भी कहते हैं। वह है अहम् आत्मा की दुनिया। यहाँ जब आते हैं तो आत्मा साकारी बनती है। वहाँ चोला नहीं है। यहाँ चोला धारण कर पार्ट बजाती है। अब बाप कहते हैं तुम बच्चों को वापिस ले चलने आया हूँ। मैं कालों का काल हूँ। अमृतसर में एक अकालतख्त भी रखा है। अकाल जिसको काल खा न सके। अब कालों का काल कहते हैं, मैं तुमको वापिस ले जाता हूँ। तुमको फिर पार्ट बजाने आना है। सृष्टि के आदि में पहले किसका पार्ट चला? क्योंकि यह सृष्टि वैरायटी धर्मो का झाड़ है। सब नम्बरवार आते ह़ैं पहले है देवता धर्म। अब वह धर्म प्राय:लोप है, उसका ज्ञान भी लोप है। तो शास्त्रों में कहाँ से आया? जिस सहज राजयोग से वह देवता बने वह भी गुम है। बाकी यह गीता आदि है भक्ति की सामग्री क्योंकि यह ज्ञान तुमको यहाँ ही मिलता है। फिर उसका शास्त्र सतयुग त्रेता में होता नहीं। तो द्वापर में कहाँ से आये? वहाँ कोई तुम्हारी सच्ची गीता आदि नहीं होती है। वहाँ फिर ड्रामा अनुसार वही भक्ति मार्ग की गीता आदि बनाते हैं। कहते हैं आगे साधू महात्माओं की बुद्धि अच्छी थी। तो उन्हों ने बैठ यह शास्त्र आदि बनाये। ड्रामा अनुसार बनने ही थे। उस समय रीयल चीज़ कहाँ से आये। जैसे गांधी के साथ मोतीलाल आदि का पार्ट था। अब अगर उसका नाटक बनायें तो वह कहाँ से आयें। वह ऐसे ही आर्टीफीशियल बनायेंगे। अब ब्रह्मा का स्थापना का पार्ट चल रहा है। किस चीज़ की स्थापना? बच्चे जानते हैं देवी-देवता धर्म की स्थापना सतयुग के लिए हो रही है इसलिए बाप कहते हैं मुझे याद करो तो मेरे पास आ जायेंगे। यहाँ बैठे हो तो बैठकर टेप सुननी चाहिए या मुरली रिपीट करनी चाहिए या योग में बैठना चाहिए तो विकर्म विनाश हों। सारा दिन तो काम में रहते हो। वहाँ योग में मुश्किल रहते होंगे। इसमें माया विघ्न बहुत डालती है। माया ज्ञान से नहीं हटाती, योग से हटाती है। संकल्प-विकल्प योग में रहने नहीं देते। पढ़ाई में इतने विघ्न नहीं पड़ते हैं। हाँ अगर योग में नहीं होगा तो पढ़ाई की धारणा नहीं होगी। ज्ञान से योग सहज भी है। बूढ़ी मातायें जो कहती हैं हमारी बुद्धि में इतनी प्वाइंट्स नहीं बैठती हैं। तो बाबा कहते हैं अच्छा मेरी याद में रहो।

बाप कहते हैं हे भक्तों, भगत तो सब हैं। परन्तु तुम सिकीलधे भगत हो, जिन्होंने पूरा आधाकल्प भक्ति की है। सब तो पूरी भक्ति नहीं करते। कल तक जो आते रहेंगे, वह इतना समय ही भक्ति करेंगे। परन्तु तुम ही पूज्य और पुजारी बनते हो। वह भी बच्चों से मालूम पड़ जाता है। जो बच्चे बनते हैं, श्रीमत पर चलते हैं। समझते हैं यह हमारे कुल के हैं, जिनको पूरा निश्चय है कि हमको परमात्मा पढ़ाते हैं वह हैं सगे बच्चे। सगे बच्चे बलि चढ़ते, लगे बलि नहीं चढ़ते। इसमें डरना नहीं है। भक्ति में तो बलि चढ़ते आये हो, कुछ न कुछ ईश्वर अर्थ दान करते आये हो। यह भी बलि चढ़ना हुआ। फिर कहते हो परमात्मा ने पुत्र दिया, धन दिया। परन्तु मनुष्य इसका अर्थ नहीं समझते हैं। तुम अब जानते हो कि यह भी बाप भक्ति का रिटर्न अल्पकाल के लिए देते आये हैं। सतयुग में ऐसे नहीं होता। तुम भक्ति में जो करते आये हो वह सतयुग में होता नही। न कोई गरीब होता जिसको दान करें। न कोई शास्त्र होते, न मन्दिर होते। यह सब भक्ति मार्ग की सामग्री है, जो सतयुग में होती नहीं। यह ज्ञान भी प्राय: लोप हो जाता है। वहाँ कोई पुरूषार्थ नहीं, जिसकी प्रालब्ध मिले। सारी प्रालब्ध इस समय के पुरूषार्थ की है। इस्लामी, बौद्धियों की नॉलेज तो परम्परा चलती है क्योंकि उनकी स्थापना पीछे विनाश नहीं है। तो उनको सब पता रहता है। परन्तु तुम्हारे पीछे विनाश होता है तो इसमें सब खलास हो जाता है। फिर द्वापर में वही वेद शास्त्र आदि निकलेंगे। यह सब गीता के बाल बच्चे हैं। उन सबको धर्म शास्त्र नहीं कहेंगे, क्योंकि धर्मशास्त्र उसे कहा जाता है जिससे धर्म की स्थापना हो। जैसे क्राइस्ट के महावाक्यों को कहते हैं यह मैसेन्जर के महावाक्य हैं। क्राइस्ट को गॉड फादर नहीं कहेंगे, उनको गॉड का सन (बच्चा) समझते हैं। कहते हैं गॉड ने क्रिश्चियन धर्म स्थापन करने के लिए भेजा। तो उनको अपने धर्म की पालना भी करनी है। सतो, रजो, तमो में आना ही है। यह ज्ञान उनको नहीं है कि वापिस कोई नहीं जा सकते।

अच्छा – बाबा समझाते थे कि उन्होंने गीता भल बनाई है, यादगार है। देवता धर्म का शास्त्र है। परन्तु उनको झूठा बना दिया है। सच तो आटे में नमक मिसल है क्योंकि पीछे बैठ बनाये हैं। सतयुग त्रेता में किसको ज्ञान है नहीं। वह थोड़ेही समझते हैं सतयुग के इतने सोने हीरे के महल कहाँ चले गये? क्यों गये? कहते हैं द्वारिका नीचे सागर में चली गई। परन्तु सागर में नहीं जाती। अर्थक्वेक आदि में सब खलास हो जाते हैं। फिर स्वर्ग का नामनिशान नहीं रहता। प्रालब्ध भोगकर खलास कर दी तो उनका नामनिशान नहीं रहता। न हिस्ट्री रहती। जैसे मन्दिर बनते हैं तो उनकी हिस्ट्री है। पूजा कब से शुरू हुई? मोहम्मद गजनवी कब आया? कैसे भारत का धन लूटा, यह सब ज्ञान है बुद्धि के लिए भोजन। परन्तु योग ठीक नहीं होगा तो सुनने समय खुश होगा परन्तु ठहरेगा नहीं, पवित्र नहीं होगा तो ठहरेगा नहीं। इसमें किसका वश नहीं। यह शास्त्रों का ज्ञान नहीं है। वह तो सभी कण्ठ कर लेते हैं। यह तो पढ़ाई है 21 जन्मों के लिए। वहाँ भल बाप के तख्त पर बैठेंगे परन्तु वह भी यहाँ की कमाई की प्रालब्ध है। देवतायें एक दो को वर्सा नहीं देते, इसलिए बाप कहते हैं मुझे याद करो। मौत सामने खड़ा है। तुमको मम्मा बाबा को फालो करना है। वह सन्यासी के नाम मात्र फालोअर्स बनते हैं। वहाँ गॉड गाडेज का राज्य है। यथा राजा रानी भगवती भगवान तथा प्रजा, इसके लिए फादर पढ़ा रहे हैं। ऐसे नहीं आशीर्वाद करेंगे। उनका पढ़ाना ही ब्लैसिंग है। टीचर को कहेंगे क्या आशीर्वाद करो तो 100 मार्क्स मिल जायें। बाबा तो पढ़ाते हैं, यह पढ़ाई सबके लिए है। क्रिश्चियन हो, बौद्धी हो – कहते हैं सर्व धर्मानि… यह सब देह के धर्म हैं ना। कहते हैं इन सबको भूल अपने को आत्मा निश्चय करो। आत्मा तो सभी इमार्टल हैं। एक बाप के बच्चे हैं ना इसलिए कहते हैं जो देह के धर्म हैं मामा, काका छोड़ अपने को अकेला आत्मा निश्चय करो और मेरे को याद करो तो विकर्म विनाश हो जायेंगे और कोई रास्ता नहीं, इसको योग अग्नि कहते हैं।

बाबा के पत्रों में तो चिटचैट होती है जो मधुबन में रात को सुनाई जाती है। मधुबन में बाबा हंसायेंगे भी, उमंग भी दिलायेंगे, कहेंगे तुम बड़ी अच्छी हो, ज्ञान गंगा बन सकती हो। क्या टेलीफोन ऑफिस में नौकरी करती हो? तुम तो महारानी बनने वाली हो। गिरने वाले को भी उठायेंगे। बाबा कहते हैं मैं जानता हूँ कि बहुतों को राहू का ग्रहण लगता है। समाचार आते हैं तो बाबा उनको उठाते हैं। मुफ्त बादशाही देने आया हूँ, तुम्हारे को क्या हुआ है! राहू का ग्रहण लगा हुआ है। योग में रहो, मुरली सुनो। ऐसे पत्र लिखने पड़ते हैं। बहुत प्रकार के पत्र आते हैं। कोई की कोई साथ दिल लग जाती है तो आपस में प्लैन बनाते हैं अच्छा हम आपस में गन्धर्वी विवाह करेंगे। मैं तुमको बचाता हूँ, बंधन से छुड़ाता हूँ। बाबा कहे तुम कैसे बचा सकते हो? पहले तुम माया से बचे हो? बाबा से राय ली है? श्रीमत ली नहीं है और आपस में सगाई की बातें करते हो! तो मुर्दे, माया घसीट कर ले जायेगी। सूक्ष्म में दिल लग जाती है तो ऐसी-ऐसी बातें करते हैं। बाबा समझ जाते हैं यह रसातल में जा रहा है। सगाई तो माता-पिता करते हैं, तुम मुट्ठे आपस में ही सगाई कर रहे हो – गुपचुप में। तुमको पता नहीं कि ऐसे-ऐसे विघ्न आते हैं। गुड़ जाने गुड़ की गोथरी जाने। बाबा तो सभी बच्चों को जानते हैं, कोई भी पूछ सकते हैं – बाबा मैं मातेला हूँ वा सौतेला हूँ! अब शरीर छूट जाये तो क्या पद मिलेगा? शरीर पर किसका भरोसा नहीं है। स्टीम्बर डूब जाता है, ऐरोप्लेन गिर जाता है तो क्या गति होती है! मौत तो सबके सिर पर खड़ा है, इसलिए आज का काम कल पर नहीं रखना है। नहीं तो धर्मराजपुरी में साक्षात्कार होगा। देखो, कल-कल करते काल खा गया। श्रीमत पर न चले तो राज्य पद गँवा लिया। थोड़ा भी सुनने वाला हो तो स्वर्ग में आ जायेगा। फिर जो जितनी स्थापना में मदद करेंगे तो उतना पद पायेंगे। जैसे गांधी जी को मदद की, कितने जेल में गये। कितने मरे, रिटर्न में क्या मिला? कोई साहूकार कांग्रेसी के पास जाकर जन्म लिया होगा। अब समय बाकी कितना थोड़ा है। फिर क्या सुख मिला? ज्ञान सुनकर जाते तो व्यर्थ नहीं जायेगा। यहाँ कुछ छुड़ाया नहीं जाता है। यह तो उन्होंने तंग किया, विकारों के लिए, तब लाचारी में उनको छोड़ना पड़ा। नहीं तो क्या करें! तो बाप को शरण देनी पड़ी। ऐसे तो अब तक भी शरण लेते रहते हैं, इसमें भगाने की तो बात ही नहीं। यह तो ड्रामा अनुसार गऊशाला बननी थी। हैं तो बच्चे, परन्तु उन्होंने नाम गऊशाला डाला है। कहते हैं कृष्ण ने नदी पार की तो गऊओं ने भी पार की होगी। है सारी बात इस समय की। इन सब बातों से पहले ज्ञान लो और बाप से वर्सा लो। भल धन्धा करो, साथ-साथ यह सेकेण्ड कोर्स उठाओ। विलायत में रहते भी मुरली जरूर पढ़ो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) देह के सम्बन्धों को भूल अपने को अकेली आत्मा समझना है। बाप पर पूरा-पूरा बलि चढ़ना है, इसमें डरना नहीं है।

2) धर्मराज़ की सजाओं से बचने के लिए आज का काम कल पर नहीं छोड़ना है। पढ़ाई के आधार से बाप की ब्लैसिंग लेते रहना है।

वरदान:- कर्म और योग के बैलेन्स द्वारा निर्णय शक्ति को बढ़ाने वाले सदा निश्चिंत भव 
सदा निश्चिंत वही रह सकते हैं जिनकी बुद्धि समय पर यथार्थ जजमेंट देती है क्योंकि दिन-प्रतिदिन समस्यायें, सरकमस्टांश और टाइट होने हैं, ऐसे समय पर कर्म और योग का बैलेन्स होगा तो निर्णय शक्ति द्वारा सहज पार कर लेंगे। बैलेन्स के कारण बापदादा की जो ब्लैसिंग प्राप्त होगी उससे कभी संकल्प में भी आश्चर्यजनक प्रश्न उत्पन्न नहीं होंगे। ऐसा क्यों हुआ, यह क्या हुआ..यह क्वेश्चन नहीं उठेगा। सदैव यह निश्चय पक्का होगा कि जो हो रहा है उसमें कल्याण छिपा हुआ है।
स्लोगन:- एक बाबा से सर्व संबंधों का रस लो और किसी की भी याद न आये।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 14 October 2017 :- Click Here
Font Resize