16 november ki murli

TODAY MURLI 16 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 16 November 2020

16/11/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are students of this spiritual university. Your dutyis to give the Father’s message to the whole universe.
Question: What do you children beat the drums about and what do you explain to everyone?
Answer: You beat the drums to tell everyone that the new divine kingdom is once again being established and that all the innumerable religions are now to be destroyed. You tell everyone to remain carefree because this is an international problem. The war will definitely take place and the divine kingdom will come after that.

Om shanti. This is a spiritual university. Souls from the whole universe study in a university. “Universe means the world. Legally, the word “university” applies to you children. This is a spiritual university. This cannot be a physical university. This is the only one Godfatherly University where all of you souls receive lessons. This message of yours should definitely reach everyone in one way or another. You have to give this message. This message is very simple. You children know that He is our unlimited Father, the One whom everyone remembers. You can also say that He is your unlimited Beloved and that all souls, living beings, in the world definitely remember that one Beloved. You have to imbibe these points very well. Those who have fresh intellects will be able to imbibe everything very well. The Father of all the souls of the universe is just the One. Only human beings study in a university. You children also know that you are the ones who take 84 births. There is no question of 8.4 million births. All the souls of the universe are impure at this time. This dirty world is the land of sorrow. Only the one Father takes you to the land of happiness. He is also called the Liberator. You are becoming the masters of the whole world and the universe. The Father tells you all: Go and give this message to everyone. Everyone remembers the Father. He is called the Guide, the Liberator and the Merciful One. There are many languages. All souls call out to the One. Therefore, that One is also the Teacher of the whole universe. He is the Father anyway, but no one knows that He is also the Teacher and the Guru of all of us souls. He also guides everyone. Only you children know the unlimited Guide. No one but you Brahmins know Him. Only you understand what a soul is. Not a single human being in the world understands what a soul is. No one in the world in general, and Bharat in particular, understands what a soul is. Although they say that a wonderful star sparkles in the centre of the forehead, they don’t understand anything. You now understand that souls are imperishable. This soul never becomes larger or smaller. Just as you are a soul, so the Father, too, is just a point; He is no larger or smaller. He too is a soul, but He is the Supreme Soul, the Supreme. Truly, all souls reside in the supreme abode. They come here to play their parts. Then they try to go back to their supreme abode. Everyone remembers the Supreme Father, the Supreme Soul, because it is only the Supreme Father who takes souls into liberation: this is why they remember Him. Souls have become tamopradhan. Why do they remember Him? They don’t even know this. A baby says, “Baba”, that’s all; he doesn’t know anything. Similarly, you also say, “Baba, Mama”, but you don’t know anything. There used to be one nationality in Bharat and that was called the deity nationality. Later on, many other nationalities entered. Now there are so many nationalities and this is why there is so much fighting etc. Wherever there are many other nationalities, the residents keep trying to get them out. There is so much fighting. There is also a lot of darkness. There has to be some limit. There is a limit to the number of actors. This play is predestined. However many actors there are, there can be no more or no less than that number. When all the actors have come onto the stage, they then have to return home. All the actors who still remain up there are continuing to come down here. No matter how much they beat their heads to control the population, they are unable to do so. Tell them: We BKs have such birth control that only 900,000 will remain. The whole population will be reduced. We are telling you the truth; we are now establishing that world. The new world, the new tree, will definitely be small. No one here can control this, because the world is becoming more and more tamopradhan. The population continues to increase. All the actors that are yet to come will come here and adopt bodies. No one understands these things. Those with shrewd intellects understand that there will be all types of actors in the kingdom. The kingdom that existed in the golden age is once again being established. You will then be transferred. You are now being transferred from the tamopradhan to the satopradhan class. You are going from the old world to the new world. Your study is not for this world. There cannot be any other such universityGod, the Father, says: I am teaching you for the land of immortality. This land of death has to be destroyed. There used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan in the golden age. No one knows how it was established. Baba always says: You must definitely have the picture of Lakshmi and Narayan whenever you go to give a lecture. The date must also be written on that. You can explain that from the beginning of the new world it was that dynasty’s kingdom for 1250 years. Similarly, it is said: There was the kingdom of the Christian dynasty; they continue to follow one another. When the deity dynasty existed, there was no one else. This dynasty is now once again being established. Everyone else has to be destroyed. War is standing just ahead. The stories in the Bhagawad etc. are based on this. We used to listen to these stories in our childhood. You now understand how the kingdom is established. The Father definitely taught us Raja Yoga. Those who pass become the beads of the rosary of victory, whereas others don’t know this rosary at all. Only you know this. Your path is the family path. Baba is standing above. He doesn’t have a body of His own. Then there are Brahma and Saraswati, who become Narayan and Lakshmi. First, there has to be the Father and then the couple. There are the beads of Rudraksh. In Nepal they have a tree from which they take the beads of Rudraksh. There are some real ones in that; the tinier they are, the more expensive they are. You now understand the meaning of this. The rosary of Vishnu, of victory, which means the rosary of Runda, is created. Those people simply turn the beads of a rosary and chant the name of Rama, but there is no meaning to that. They continue to turn the beads of a rosary. Here, the Father says: Remember Me! This is the soundless chant. You don’t have to say anything with your mouth. Songs too are physical. You children simply have to remember the Father. Otherwise, you will continue to remember songs. The main thing here is remembrance. You have to go beyond sound. The Father’s direction is: Manmanabhav! The Father doesn’t ask you to sing songs or speak out loud. There is no need to sing praise of Me. You know that He is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Peace and Happiness. Human beings don’t understand this. They have simply given Him that name. No one, apart from you, knows this. The Father comes and tells you His name and form. He explains what He is like and what you souls are like. You have made a lot of effort playing your parts. You have been doing devotion for half the cycle. I don’t play such a part. I am beyond happiness and sorrow. You experience sorrow and then, in the golden age, you experience happiness. Your parts are higher than Mine. I sit up there comfortably for half the cycle in the stage of retirement. You continue to call out to Me. It isn’t that I hear your call when I’m sitting there. My part is at this time. I know my part in the drama. The drama is now coming to an end. I have to come and play the part of purifying impure ones and nothing else. People believe that because the Supreme Soul is the Almighty Authority He knows what is within everyone. They think that He knows what is happening inside each one. The Father says: It is not like that. When you have become completely tamopradhan, it is then the accurate time for Me to come. I enter an ordinary body. I come and liberate you children from sorrow. There is establishment of the one religion through Brahma and destruction of innumerable religions through Shankar. After the cries of distress, there will be the cries of victory. There will be so much distress! People will continue to die as a result of calamities. A lot of help is received from the natural calamities. Otherwise, human beings would become very diseased and experience a lot of sorrow. The Father says: In order that the children don’t continue to experience sorrow, natural calamities come with so much force that they destroy everyone. The bombs are nothing! The natural calamities help a great deal. So many people die in earthquakes. Waves of water (Tsunami) will come once or twice and they will die. There will be huge ocean waves; one hundred foot waves will swallow up the earth. What will happen then? These will be the scenes of distress. A great deal of courage is needed to watch such scenes. You also have to make effort and become fearless. You children must have no arrogance at all. Become soul conscious! Those who remain soul conscious are very sweet. The Father says: I am incorporeal and unique. I come here to serve everyone. Just see how much people praise Me. The Ocean of Knowledge. Oh Baba! Then, they say: Come into the impure world! You give Me a very good invitation! You don’t even ask Me to come to heaven to see the happiness there! You call out: O Purifier, we are impure! Come and make us pure! Look at the invitation you give Me! You invite Me into a completely tamopradhan and impure world and an impure body! You people of Bharat give Me a very good invitation! Such is the significance of the drama. This one didn’t know that this was the last of his many births. It was only when Baba entered him that he was told. Baba has explained the significance of everything. Brahma had to become His wife. Baba Himself says: This one is My wife. I enter him and adopt you through him. This one is the true senior mother and that one is the adopted mother. You can call them “Mother and Father”. You only say “Father” to Shiv Baba. This one is Brahma Baba. Mama is incognito. Brahma is the mother, but he has the body of a male. He is unable to look after you and this is why the daughter was adopted. She has been given the name Mateshwari, Saraswati. She is the head. According to the drama, there is only one Saraswati, but there are many names: Durga, Kali etc. There can only be one Mother and Father. All of you are children. It is remembered that Saraswati is the daughter of Brahma. You are Brahma Kumars and Kumaris. Many names have been given to you. Those of you who understand all of these things also understand them, numberwise. In a study, everyone is numberwise; one cannot be the same as another. This kingdom is being established. This drama is predestined. It has to be understood in great detail. There are many points. Even those who study to become barristers are numberwise. Some barristers can earn two to three hundred thousand whereas others wear torn clothes. It is the same here. It has been explained to you children that there is to be an international problem. You now have to tell everyone to remain carefree. The war will definitely take place. You beat the drums to say that the new divine kingdom is once again being established. There will be destruction of the innumerable religions. This is so clear! All these people are created through Prajapita Brahma. He says: These are my mouth-born creation. You are mouth-born Brahmins. Those brahmins are born through vice. They are worshippers whereas you are now becoming worthy of worship. You know that you are becoming the deities who are worthy of worship. You don’t have a crown of light on you now. When you souls become pure you will leave your bodies. You can’t be given a crown of light while in your present bodies; that wouldn’t suit you. At this time you are only worthy of praise. No soul is pure at this time and this is why there can’t be light on anyone at this time. The light exists in the golden age. This light shouldn’t even be shown on those who have two degrees less. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make your stage so unshakeable and fearless that you are able to witness the final scenes of destruction. Make effort to become soul conscious.
  2. In order to claim a high status in the new kingdom, pay full attention to your study. Pass and become a bead of the rosary of victory.
Blessing: May you be spiritually merciful and give extra power to weak, disheartened and powerless souls.
Children who are spiritually merciful become great donors and create hope in those who are completely hopeless cases. They make weak ones powerful. Donations are always given to poor ones who don’t have any support. Become great donors and spiritually merciful to subject-quality souls who are weak, disheartened and powerless. Do not be great donors to one another. Among yourselves, you are co-operative companions, you are brothers, equal effort-makers. So give co-operation, not donations.
Slogan: Always stay in the elevated company of the one Father and no colour of any other company will then be able to influence you.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 16 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

16-11-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम इस रूहानी युनिवर्सिटी के स्टूडेण्ट हो, तुम्हारा काम है सारी युनिवर्स को बाप का मैसेज देना”
प्रश्नः- अभी तुम बच्चे कौन सा ढिंढोरा पीटते और कौन सी बात समझाते हो?
उत्तर:- तुम ढिंढोरा पीटते हो कि यह नई दैवी राजधानी फिर से स्थापन हो रही है। अनेक धर्मो का अब विनाश होना है। तुम सबको समझाते हो कि सब बेफिकर रहो, यह इन्टरनेशनल रोला है। लड़ाई जरूर लगनी है, इसके बाद दैवी राजधानी आयेगी।

ओम् शान्ति। यह है रूहानी युनिवर्सिटी। सारे युनिवर्स की जो भी आत्मायें हैं, युनिवर्सिटी में आत्मायें ही पढ़ती हैं। युनिवर्स अर्थात् विश्व। अब कायदे अनुसार युनिवर्सिटी अक्षर तुम बच्चों का है। यह है रूहानी युनिवर्सिटी। जिस्मानी युनिवर्सिटी होती ही नहीं। यह एक ही गॉड फादरली युनिवर्सिटी है। सभी आत्माओं को लेसन मिलता है। तुम्हारा यह पैगाम कोई न कोई प्रकार से सबको जरूर पहुँचना चाहिए, मैसेज देना है ना और यह मैसेज बिल्कुल सिम्पुल है। बच्चे जानते हैं वह हमारा बेहद का बाप है, जिसको सब याद करते हैं। ऐसे भी कहें वह हमारा बेहद का माशूक है, जो भी विश्व में जीव आत्मायें हैं वह उस माशूक को याद जरूर करती हैं। यह प्वाइंट्स अच्छी रीति धारण करनी है। जो फ्रेश बुद्धि होंगे वह अच्छी रीति धारण कर सकेंगे। युनिवर्स में जो भी आत्मायें हैं उन सबका बाप एक ही है। युनिवर्सिटी में तो मनुष्य ही पढ़ेंगे ना। अभी तुम बच्चे यह भी जानते हो – हम ही 84 जन्म लेते हैं। 84 लाख की तो बात ही नहीं। युनिवर्स में जो भी आत्मायें हैं, इस समय सब पतित हैं। यह है ही छी-छी दुनिया, दु:खधाम। उसे सुखधाम में ले जाने वाला एक ही बाप है, उनको लिबरेटर भी कहते हैं। तुम सारे युनिवर्स वा विश्व के मालिक बनते हो ना। बाप सबके लिए कहते हैं यह मैसेज पहुँचाकर आओ। बाप को सब याद करते हैं, उनको गाइड, लिबरेटर, मर्सीफुल (रहमदिल) भी कहते हैं। अनेक भाषायें हैं ना। सभी आत्मायें एक को पुकारती हैं तो वह एक ही सारी युनिवर्स का टीचर भी हुआ ना। बाप तो है ही परन्तु यह किसको पता नहीं कि वह हम सब आत्माओं का टीचर भी है, गुरू भी है। सबको गाइड भी करते हैं। इस बेहद के गाइड को सिर्फ तुम बच्चे ही जानते हो। तुम ब्राह्मणों के सिवाए और कोई नहीं जानते। आत्मा को भी तुमने जाना है कि आत्मा क्या चीज़ है। दुनिया में तो एक भी मनुष्य नहीं, खास भारत आम दुनिया किसको भी पता नहीं कि आत्मा क्या चीज़ है। भल कहते हैं भ्रकुटी के बीच चमकता है अजब सितारा। परन्तु समझ कुछ नहीं। अभी तुम जानते हो आत्मा तो अविनाशी है। वह कभी बड़ी या छोटी नहीं होती। जैसे तुम्हारी आत्मा है, बाप भी वही बिन्दी है। बड़ा छोटा नहीं। वह भी है आत्मा सिर्फ परम आत्मा है, सुप्रीम है। बरोबर सभी आत्मायें परमधाम में रहने वाली हैं। यहाँ आती हैं पार्ट बजाने। फिर अपने परमधाम जाने की कोशिश करते हैं। परमपिता परमात्मा को सब याद करते हैं क्योंकि आत्माओं को परमपिता ने ही मुक्ति में भेजा था तो उनको ही याद करते हैं। आत्मा ही तमोप्रधान बनी है। याद क्यों करते हैं? इतना भी पता नहीं। जैसे बच्चा कहेगा – “बाबा”, बस। उनको कुछ भी पता ही नहीं। तुम भी बाबा मम्मा कहते हो, जानते कुछ नहीं हो। भारत में एक नेशनल्टी थी, उनको डीटी नेशनल्टी कहा जाता है। फिर बाद में और भी उनमें इन्टर हुए हैं। अभी कितने ढेर हो गये हैं, इसलिए इतने झगड़े आदि होते हैं। जहाँ-जहाँ जास्ती घुस गये हैं, उनको वहाँ से निकालने की कोशिश करते रहते हैं। बहुत झगड़े हो गये हैं। अन्धियारा भी बहुत हो गया है। कुछ तो लिमिट भी होनी चाहिए ना। एक्टर्स की लिमिट होती है। यह भी बना बनाया खेल है। इसमें जितने भी एक्टर्स हैं, उसमें कम जास्ती हो न सके। जब सब एक्टर्स स्टेज पर आ जाते हैं फिर उनको वापिस भी जाना है। जो भी एक्टर्स रहे हुए होंगे, आते रहेंगे। भल कितना भी कन्ट्रोल आदि करने के लिए माथा मारते रहते हैं, परन्तु कर नहीं सकते। बोलो, हम बी.के. ऐसा बर्थ कन्ट्रोल कर देते हैं जो बाकी 9 लाख जाकर रहेंगे। फिर सारी आदमशुमारी ही कम हो जायेगी। हम आपको सत्य बताते हैं, अब स्थापना कर रहे हैं। नई दुनिया, नया झाड़ जरूर छोटा ही होगा। यहाँ तो यह कन्ट्रोल कर नहीं सकेंगे क्योंकि तमोप्रधान और होता जाता है। वृद्धि होती जाती है। एक्टर्स जो भी आने वाले हैं, यहाँ ही आकर शरीर धारण करेंगे। इन बातों को कोई समझते नहीं हैं। शुरूड़ बुद्धि समझते हैं राजधानी में तो हर प्रकार के पार्टधारी होते हैं। सतयुग में जो राजधानी थी वह फिर से स्थापन हो रही है। ट्रांसफर हो जायेंगे। तुम अभी तमोप्रधान से सतोप्रधान क्लास में ट्रांसफर होते हो। पुरानी दुनिया से नई दुनिया में जाते हो। तुम्हारी पढ़ाई इस दुनिया के लिए नहीं है। ऐसी युनिवर्सिटी और कोई हो न सके। गॉड फादर ही कहते हैं हम तुमको अमरलोक के लिए पढ़ाते हैं। यह मृत्युलोक खलास होना है। सतयुग में इन लक्ष्मी-नारायण की राजधानी थी। यह स्थापन कैसे हुई, यह किसको पता नहीं है।

बाबा हमेशा कहते हैं जहाँ तुम भाषण करते हो तो यह लक्ष्मी-नारायण का चित्र जरूर रखो। इनमें डेट भी जरूर लिखी हुई हो। तुम समझा सकते हो कि नये विश्व की शुरूआत से 1250 वर्ष तक इस डिनायस्टी का राज्य था। जैसे कहते हैं ना – क्रिश्चियन डिनायस्टी का राज्य था। एक दो के पिछाड़ी चले आते हैं। तो जब ये देवता डिनायस्टी थी तो दूसरा कोई था नहीं। अब फिर यह डिनायस्टी स्थापन हो रही है। बाकी सबका विनाश होना है। लड़ाई भी सामने खड़ी है। भागवत आदि में इस पर भी कहानी लिख दी है। छोटे-पन में यह कहानियां आदि सुनते रहते थे। अभी तुम जानते हो यह राजाई कैसे स्थापन होती है। जरूर बाप ने ही राजयोग सिखाया है। जो पास होते हैं वह विजय माला का दाना बनते हैं और कोई इस माला को जानते नहीं। तुम ही जानते हो। तुम्हारा प्रवृत्ति मार्ग है। ऊपर में बाबा खड़ा है, उनको अपना शरीर है नहीं। फिर ब्रह्मा सरस्वती सो लक्ष्मी-नारायण। पहले चाहिए बाप फिर जोड़ा। रूद्राक्ष के दाने होते हैं ना। नेपाल में एक वृक्ष है, जहाँ से यह रूद्राक्ष के दाने आते हैं। उनमें सच्चे भी होते हैं। जितना छोटे उतना दाम बहुत। अभी तुम अर्थ को समझ गये हो। यह विष्णु की विजय माला अथवा रूण्ड माला बनती है। वो लोग तो सिर्फ माला फेरते-फेरते राम-राम करते रहेंगे, अर्थ कुछ भी नहीं। माला का जाप करते हैं। यहाँ तो बाप कहते हैं मुझे याद करो। यह है अजपाजाप। मुख से कुछ बोलना नहीं है। गीत भी स्थूल हो जाता है। बच्चों को तो सिर्फ बाप को याद करना है। नहीं तो फिर गीत आदि याद आते रहेंगे। यहाँ मूल बात है ही याद की। तुमको आवाज से परे जाना है। बाप का डायरेक्शन है ही मनमनाभव। बाप थोड़ेही कहते हैं गीत गाओ, रड़ी मारो। मेरी महिमा गायन करने की भी दरकार नहीं है। यह तो तुम जानते हो वह ज्ञान का सागर, सुख-शान्ति का सागर है। मनुष्य नहीं जानते। ऐसे ही नाम रख दिये हैं। तुम्हारे सिवाए और कोई भी नहीं जानते। बाप ही आकर अपना नाम रूप आदि बताते हैं – मैं कैसा हूँ, तुम आत्मा कैसी हो! तुम बहुत मेहनत करते हो – पार्ट बजाने। आधाकल्प भक्ति की है, मैं तो ऐसे पार्ट में आता नहीं हूँ। मैं दु:ख सुख से न्यारा हूँ। तुम दु:ख भोगते हो फिर तुम ही सुख भोगते हो – सतयुग में। तुम्हारा पार्ट मेरे से भी ऊंच है। मैं तो आधाकल्प वहाँ ही आराम से बैठा रहता हूँ वानप्रस्थ में। तुम मुझे पुकारते आते हो। ऐसे नहीं कि मैं वहाँ बैठ तुम्हारी पुकार सुनता हूँ। मेरा पार्ट ही इस समय का है। ड्रामा के पार्ट को मैं जानता हूँ। अब ड्रामा पूरा हुआ है, मुझे जाकर पतितों को पावन बनाने का पार्ट बजाना है और कोई बात है नहीं। मनुष्य समझते हैं परमात्मा सर्वशक्तिमान् है, अन्तर्यामी है। सबके अन्दर क्या-क्या चलता है, वह जानते हैं। बाप कहते हैं ऐसे है नहीं। तुम जब बिल्कुल तमोप्रधान बन जाते हो – तब एक्यूरेट टाइम पर मुझे आना पड़ता है। साधारण तन में ही आता हूँ। तुम बच्चों को आकर दु:ख से छुड़ाता हूँ। एक धर्म की स्थापना ब्रह्मा द्वारा, अनेक धर्मो का विनाश शंकर द्वारा…हाहाकार के बाद जयजयकार हो जायेगी। कितना हाहाकार होना है। आफतों में मरते रहेंगे। नेचुरल कैलेमिटीज की भी बहुत मदद रहती है। नहीं तो मनुष्य बहुत रोगी, दु:खी हो जाएं। बाप कहते हैं बच्चे दु:खी न पड़े रहें इसलिए नेचुरल कैलेमिटीज भी ऐसी जोर से आती हैं जो सबको खत्म कर देती हैं। बाम्बस तो कुछ नहीं हैं, नेचुरल कैलेमिटीज बहुत मदद करती हैं। अर्थक्वेक में ढेर खत्म हो जाते हैं। पानी का एक दो घुटका आया यह खत्म। समुद्र भी जरूर उछल खायेगा। धरती को हप करेगा, 100 फुट पानी उछल खाये तो क्या कर देगा। यह है हाहाकार की सीन। ऐसी सीन देखने के लिए हिम्मत चाहिए। मेहनत भी करना है, निर्भय भी बनना है। तुम बच्चों में अहंकार बिल्कुल नहीं होना चाहिए। देही-अभिमानी बनो। देही-अभिमानी रहने वाले बड़े मीठे होते हैं। बाप कहते हैं – मैं तो हूँ निराकार और विचित्र। यहाँ आता हूँ – सर्विस करने के लिए। हमारी बड़ाई देखो कितनी करते हैं। ज्ञान का सागर… हे बाबा और फिर कहते हैं पतित दुनिया में आओ। तुम निमंत्रण तो बड़ा अच्छा देते हो। ऐसा भी नहीं कहते कि स्वर्ग में आकर सुख तो देखो। कहते हैं हे पतित-पावन हम पतित हैं, हमको पावन बनाने आओ। निमंत्रण देखो कैसा है। एकदम तमोप्रधान पतित दुनिया और फिर पतित शरीर में बुलाते हैं। बड़ा अच्छा निमंत्रण देते हैं भारतवासी! ड्रामा में राज़ ही ऐसा है। इनको भी थोड़ेही पता था कि मेरा बहुत जन्मों के अन्त का जन्म है। बाबा ने प्रवेश किया है तब बताते हैं। बाबा ने हर एक बात का राज़ समझाया है। ब्रह्मा को ही वन्नी (पत्नी) बनना है। बाबा खुद कहते हैं – मेरी यह वन्नी है। मैं इनमें प्रवेश कर इन द्वारा तुमको अपना बनाता हूँ। यह सच्ची-सच्ची बड़ी माँ हो गई और वह एडाप्टेड मॉ ठहरी। मॉ बाप तुम इनको कह सकते हो। शिवबाबा को सिर्फ फादर ही कहेंगे। यह है ब्रह्मा बाबा। मम्मा गुप्त है। ब्रह्मा है मॉ परन्तु तन पुरूष का है। यह तो सम्भाल नहीं सकेंगे इसलिए एडाप्ट किया है बच्ची को। नाम रख दिया है मातेश्वरी। हेड हो गई। ड्रामा अनुसार है ही एक सरस्वती। बाकी दुर्गा, काली आदि सब अनेक नाम हैं। मॉ बाप तो एक ही होते हैं ना। तुम सब हो बच्चे। गायन भी है ब्रह्मा की बेटी सरस्वती। तुम ब्रह्माकुमार कुमारियां हो ना। तुम्हारे ऊपर नाम बहुत हैं। यह सब बातें तुम्हारे में भी नम्बरवार समझेंगे। पढ़ाई में भी नम्बरवार तो होते हैं ना। एक न मिले दूसरे से। यह राजधानी स्थापन हो रही है। यह बना बनाया ड्रामा है। इनको विस्तार से समझना है। बहुत ढेर प्वाइंट्स हैं। बैरिस्टरी पढ़ते हैं फिर उनमें भी नम्बरवार होते हैं। कोई बैरिस्टर तो 2-3 लाख कमाते हैं। कोई देखो कपड़े भी फटे हुए पहनेंगे। इसमें भी ऐसे हैं।

तो बच्चों को समझाया गया है कि यह इन्टरनेशनल रोला है। अभी तुम समझाते हो कि सब बेफिकर रहो। लड़ाई तो जरूर लगनी ही है। तुम ढिंढोरा पीटते हो कि नई दैवी राजधानी फिर से स्थापन हो रही है। अनेक धर्मो का विनाश होगा। कितना क्लीयर है। प्रजापिता ब्रह्मा से यह प्रजा रची जाती है। कहते हैं यह है मेरी मुख वंशावली। तुम मुख वंशावली ब्राह्मण हो। वह कुख वंशावली ब्राह्मण हैं। वह हैं पुजारी, तुम अभी पूज्य बन रहे हो। तुम जानते हो हम सो देवता पूज्य बन रहे हैं। तुम्हारे ऊपर अभी लाइट का ताज नहीं है। तुम्हारी आत्मा जब पवित्र बनेंगी तब यह शरीर छोड़ देगी। इस शरीर पर तुमको लाइट का ताज नहीं दे सकते, शोभेगा नहीं। इस समय तुम हो गायन लायक। इस समय कोई की भी आत्मा पवित्र नहीं है, इसलिए किसके ऊपर भी इस समय लाइट नहीं होनी चाहिए। लाइट सतयुग में होती है। दो कला कम वाले को भी यह लाइट नहीं देनी चाहिए। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुड़मार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपनी स्थिति ऐसी अचल और निर्भय बनानी है जो अन्तिम विनाश की सीन को देख सकें। मेहनत करनी है देही-अभिमानी बनने की।

2) नई राजधानी में ऊंच पद पाने के लिए पढ़ाई पर पूरा-पूरा ध्यान देना है। पास होकर विजय माला का दाना बनना है।

वरदान:- निर्बल, दिलशिकस्त, असमर्थ आत्मा को एकस्ट्रा बल देने वाले रूहानी रहमदिल भव
जो रूहानी रहमदिल बच्चे हैं-वह महादानी बन बिल्कुल होपलेस केस में होप पैदा कर देते हैं। निर्बल को बलवान बना देते हैं। दान सदा गरीब को, बेसहारे को दिया जाता है। तो जो निर्बल दिलशिकस्त, असमर्थ प्रजा क्वालिटी की आत्मायें हैं उनके प्रति रूहानी रहमदिल बन महादानी बनो। आपस में एक दूसरे के प्रति महादानी नहीं। वह तो सहयोगी साथी हो, भाई भाई हो, हमशरीक पुरूषार्थी हो, सहयोग दो, दान नहीं।
स्लोगन:- सदा एक बाप के श्रेष्ठ संग में रहो तो और किसी के संग का रंग प्रभाव नहीं डाल सकता।

TODAY MURLI 16 NOVEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 16 November 2019

16/11/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are the children of the Trimurti Father. You have to remember your three activities: establishment, destruction and sustenance.
Question: What damage is caused by the severe illness of body consciousness?
Answer: 1) Those who are body conscious have jealousy. Because of jealousy, they become like salt water with each other. They are not able to do service with love; they keep burning inside. 2) They remain careless; Maya keeps deceiving them a great deal. Whilst making effort, they stop studying because they lose hope and get tired. 3) Because of body consciousness, their hearts are not clean. Because their hearts are not clean, they are unable to climb into the Father’s heart. 4) Their mood goes off and their faces change.

Om shanti. Are you only remembering the Father or are you also remembering anything else? You children should remember the three tasks of establishment, destruction and sustenance because they take place simultaneously. For instance, if someone is studying law to become a barrister, he understands that he will become a barrister and then follow the legal profession. He would sustain the subject of law. Whatever someone is studying, he has the aim of continuing with that in the future. You understand that you are now carrying out the task of construction. You are establishing the pure, new world and yoga is very essential for that. It is only by having yoga that you souls who have become impure will become pure. You will become pure and then rule the kingdom in the pure world. This should enter your intellects. This is the most elevated examination of all examinations and the most elevated study of all studies. There are many different types of study that are taught to human beings by human beings. Those studies are for this world alone. After having studied, they receive the fruit of that here. You children understand that you receive the fruit of this unlimited study in the new world. That new world is not far away. It is now the confluence age. You are to rule the kingdom in the new world. Whilst you are sitting here, your intellects should have this remembrance. It is by having remembrance of the Father that you souls will become pure. You must also remember that when you have become pure, this impure world will definitely be destroyed. Not everyone will become pure. There are very few of you who have that power. You belong to the sun and moon dynasties, numberwise, according to your power. Power is needed for everything. This is Godly might and it is called the might of the power of yoga. All others are physical might; this is spiritual might. Cycle after cycle, the Father says: O children, remember Me alone. Remember the Father, the Almighty Authority. He alone is the Father. By remembering Him, you souls will become pure. These are very good aspects and they have to be imbibed. These aspects will not sit in the intellects of those who don’t have the faith that they have taken 84 births. Those who came in the satopradhan world are now in the tamopradhan world. They are the ones whose intellects will quickly develop faith. If you don’t understand anything, you should ask. If you understand clearly, you ought to be able to remember the Father. If you don’t understand, you are not able to remember Him. This is a straightforward matter. You souls, who were satopradhan, have now become tamopradhan. Those of you who have doubts and ask how you can understand that you have taken 84 births or how you can know that you claimed the inheritance from the Father in the previous cycle will not pay full attention to the study. It is understood that it is not in your fortune. You didn’t understand in the previous cycle either. This is why you are unable to stay in remembrance. This study is for the future. If souls do not study, it is understood that they have not studied cycle after cycle and that they only passed by a few marks. Many fail in a school; they pass numberwise. This too is a study. Everyone here will pass, numberwise. Those who are clever will study and continue to teach others. The Father says: I am the Servant of you children. Children also say: We too are servants. You have to benefit each and every brother and sister. The Father benefits you and you then have to benefit others. You have to explain to everyone: Remember the Father and your sins will be cut away. The more you give this message to many others, the greater a messenger you become. They are called maharathis or horse riders. Those who are foot soldiers become part of the subjects. You children can understand who will become wealthy ones. This knowledge should remain in your intellects. You children have become instruments for service. You have given your lives for service and so you will also claim a status accordingly. Such children don’t have any worries about anyone else. Human beings have hands and feet; they are not tied. You can keep yourself free. So, why should you trap yourself in bondage? Why not take nectar from the Father and give the donation of nectar to others? You are not like a sheep or a goat that someone could tie you up. In the beginning, how did you children free yourselves? You cried, screamed and caused so much distress and then just stayed there. You said: We have no worries. Do we want to establish heaven or sit and do some other work? You became intoxicated with the spiritual intoxication of belonging to the Lord and Master. You are the ones intoxicated with the Lord and Master. You know what you are receiving from the Lord and Master. The Lord and Master is teaching you. He has been given many names; some names are very sweet. You are now intoxicated with the Lord and Master. The Father gives very simple directions. Your intellects also understand that you will definitely become satopradhan and become the masters of the world by remembering the Father. This is the concern you should have. You should remember the Father in every breath. You are sitting in front of Him. When you go outside, you forget. There isn’t as much intoxication outside as there is here. You forget everything. You shouldn’t forget. However, if it is not in your fortune, you forget even whilst you are sitting here. Arrangements are being made for children to do service in museums and different villages. The Father says: You should do service quickly in whatever time you have. However, you cannot hurry the drama. The Father says: There should be such machinery that things are ready as soon as you touch them. The Father continues to explain all of this. Maya catches hold of very good children very firmly by their nose and ears. Maya brings many storms to those who consider themselves to be mahavirs. They then don’t care about anyone; they hide everything. Internally, their hearts are not truthful. Those who have true hearts claim a scholarship. If there is anything devilish in their hearts, they cannot continue. By having a devilish heart, you make your boat sink. Everyone needs Shiv Baba. You have visions of everything. It was Shiv Baba who created Brahma. By remembering Shiv Baba, you can become like the deities. Baba knows that Maya is very powerful. She bites you like a mouse so that you don’t even realise it. Maya is like a very clever mouse. Maharathis too have to be very cautious. They themselves don’t realise when Maya makes them fall and make them like salt water. You should understand that, by becoming like salt water, you will not be able to do the Father’s service; you will keep burning inside. It is because of body consciousness that you burn inside. As yet, you souls haven’t created that stage. There isn’t the power of remembrance. That is why you must remain very cautious. Maya is very clever. When you are on the battlefield, Maya doesn’t leave you alone. She finishes half or three quarters of you and you don’t even realise it. Many good new ones stop studying and stay at home. Maya also attacks those who are very good and well known. Although they do understand, they become careless. They instantly become like salt water over small matters. The Father explains: It is because of body consciousness that you become like salt water; you deceive yourself. The Father says: This too is part of the drama. Whatever you see, the drama continues as it did in the previous cycle. Their stage continues to fluctuate. Sometimes, they have bad omens over them. Sometimes, they do very good service and write to Baba giving him the good news. Their stage keeps fluctuating. Sometimes, there is defeat, sometimes, there is victory. Pandavas are sometimes defeated by Maya and sometimes they conquer Maya. Very good maharathis also fluctuate. Some even die. Therefore, wherever you live, continue to remember the Father and do service. You have become instruments to do service. You are on the battlefield. Those who live outside in households can go ahead of those who stay here. There is total war with Maya. Your parts continue second by second, as they did in the previous cycle. You say that this much time has gone by and that everything that has happened is in your intellects; all of this knowledge is in your intellects. Just as the Father has knowledge, so there also has to be knowledge in this Dada. When Baba speaks, Dada too must be speaking. You know which ones are good and have clean hearts. Those who have clean hearts climb into Baba’s heart. They do not have the nature of becoming like salt water; they always remain cheerful; their mood never changes. There are many here whose mood keeps changing; don’t even ask! People say: We are impure. They have called out to the Purifier Father to come and purify them. The Father says: Children, continue to remember Me and your clothes (soul) will become clean. Follow My shrimat. The clothes of those who don’t follow shrimat don’t become clean. Those souls don’t become pure. Day and night, the Father keeps emphasising this: Consider yourselves to be souls. You choke when you become body conscious. The more you ascend, the happier you become and the more cheerful you remain. The Father knows that some children are firstclass, yet if you look at their internal state, they are melting away. It is as though the fire of body consciousness is melting them. They don’t understand where their illness comes from. The Father says: This illness comes from body consciousness. Those who are soul conscious will never become ill. However, there are many who keep burning inside. The Father says: Children, may you be soul conscious! Some ask why they have this illness. The Father says: This illness of body consciousness is such, don’t even ask! When someone has this illness, it is like a parasite that doesn’t let go. By not following shrimat and by moving along with body consciousness, you will be hurt very badly. Baba receives all the news. Maya catches hold of them by their noses and makes them fall. Their intellects get completely killed. Many develop doubts in this way. You call out to God: “Come and change those with stone intellects into those with divine intellects”, and so if you oppose God, what would be their state? They fall completely and their intellects become like stone. Whilst sitting here, you children should experience the happiness: Student life is the best. The Father asks: Is there any study more elevated than this one? This is the best;it gives the fruit for 21 births. Therefore, you should pay so much attention to this study. Some don’t pay any attention at all. Maya cuts off their noses and ears. The Father Himself says: Her kingdom lasts for half a cycle. She catches hold of you in such a way, don’t even ask! Therefore, remain cautious and also caution one another: Remember Shiv Baba. Otherwise, Maya will cut off your nose and ears, and you won’t then be of any use at all. Many think they will claim the status of Lakshmi and Narayan. That is impossible. They get tired and collapse. They are defeated by Maya and fall into the rubbish. When you see that your intellect is getting spoilt, you should understand that Maya has caught hold of you by the nose. There is a great deal of power in the pilgrimage of remembrance. Souls become filled with a great deal of happiness. It is said that there is no nourishment like the nourishment of happiness. When customers continually come to your shop, there is an income. There would never be tiredness at that time. You would not starve. You remain very happy because you are receiving limitless wealth. You should experience a great deal of happiness. You should check: Is my behaviour divine or devilish? There is now very little time left. It is as though there is a race of untimely death. Look how many accidents etc. take place! People’s intellects have become tamopradhan. When rain comes down with great force, that would be called an accident of nature. Death too is about to come. People now believe that an atomic war will soon begin. They do such dangerous work. If they are provoked, the war will begin. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Stay in the intoxication of belonging to the Lord and Master and free yourself. Do not be tied in any bondage. Be very cautious about Maya, the mouse. There should never be any devilish thoughts in your mind.
  2. Stay in the happiness of receiving limitless wealth (knowledge) from the Father. Your intellect must never have doubts and you thereby get tired of this income. Student life is the best life. Therefore, pay full attention to this study.
Blessing: May you become a constantly contented soul and use all the treasures of your attainments by being an embodiment of remembrance.
The special blessing of the confluence age is contentment and the seed of contentment is all attainment. The seed of discontentment is some lack of physical or subtle attainment. It is remembered of Brahmins that nothing is lacking in the treasure store of Brahmins. All the children receive the same infinite treasures from the One. At every moment simply use the treasures you have attained, that is, be an embodiment of remembrance. Do not change the unlimited attainments into limited ones and you will always remain content.
Slogan: Where there is faith, the line of the fortune of victory is always on the forehead.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 16 NOVEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 November 2019

16-11-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम हो त्रिमूर्ति बाप के बच्चे, तुम्हें अपने तीन कर्तव्य याद रहें – स्थापना, विनाश और पालना”
प्रश्नः- देह-अभिमान की कड़ी बीमारी लगने से कौन-कौन से नुकसान होते हैं?
उत्तर:- 1. देह-अभिमान वालों के अन्दर जैलसी होती है, जैलसी के कारण आपस में लून-पानी होते रहते, प्यार से सेवा नहीं कर सकते हैं। अन्दर ही अन्दर जलते रहते हैं। 2. बेपरवाह रहते हैं। माया उन्हें बहुत धोखा देती रहती है। पुरूषार्थ करते-करते फाँ हो जाते हैं, जिस कारण पढ़ाई ही छूट जाती है। 3. देह-अभिमान के कारण दिल साफ नहीं, दिल साफ न होने कारण बाप की दिल पर नहीं चढ़ते। 4. मूड ऑफ कर देते। उनका चेहरा ही बदल जाता है।

ओम् शान्ति। सिर्फ बाप को ही याद करते हो या और भी कुछ याद आता है? बच्चों को स्थापना, विनाश और पालना-तीनों की याद होनी चाहिए क्योंकि साथ-साथ इकट्ठा चलता है ना। जैसे कोई बैरिस्टरी पढ़ते हैं तो उनको मालूम है मैं बैरिस्टर बनूँगा, वकालत करूंगा। बैरिस्टरी की पालना भी करेंगे ना। जो भी पढ़ेगा उनकी एम तो आगे रहेगी। तुम जानते हो हम अभी कन्स्ट्रक्शन कर रहे हैं। पवित्र नई दुनिया स्थापन कर रहे हैं, इसमें योग बहुत जरूरी है। योग से ही हमारी आत्मा जो पतित बन गई है, वह पावन बनेगी। तो हम पवित्र बन फिर पवित्र दुनिया में जाकर राज्य करेंगे, यह बुद्धि में आना चाहिए। सब इम्तहानों में सबसे बड़ा इम्तहान वा सभी पढ़ाईयों से ऊंच पढ़ाई यह है। पढ़ाईयाँ तो अनेक प्रकार की हैं ना। वह तो सब मनुष्य, मनुष्य को पढ़ाते हैं और वह पढ़ाईयाँ इस दुनिया के लिए ही हैं। पढ़कर फिर उनका फल यहाँ ही पायेंगे। तुम बच्चे जानते हो इस बेहद की पढ़ाई का फल हमको नई दुनिया में मिलना है। वह नई दुनिया कोई दूर नहीं। अभी संगमयुग है। नई दुनिया में ही हमको राज्य करना है। यहाँ बैठे हो तो भी बुद्धि में यह याद करना है। बाप की याद से ही आत्मा पवित्र बनेगी। फिर यह भी याद रखना है कि हम पवित्र बनेंगे फिर इस इमप्योर दुनिया का विनाश भी जरूर होगा। सभी तो पवित्र नहीं बनेंगे। तुम बहुत थोड़े हो जिनमें ताकत है। तुम्हारे में भी नम्बरवार ताकत अनुसार ही सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी बनते हैं ना। ताकत तो हर बात में चाहिए। यह है ईश्वरीय माइट, इनको योगबल की माइट कहा जाता है। बाकी सब है जिस्मानी माइट। यह है रूहानी माइट। बाप कल्प-कल्प कहते हैं-हे बच्चों, मामेकम् याद करो। सर्वशक्तिमान् बाप को याद करो। वह तो एक ही बाप है, उनको याद करने से आत्मा पवित्र बनेगी। यह बहुत अच्छी बातें हैं – धारण करने की, जिनको यह निश्चय ही नहीं है कि हमने 84 जन्म लिए हैं, उनकी बुद्धि में यह बातें बैठेंगी नहीं। जो सतोप्रधान दुनिया में आये थे, वही अब तमोप्रधान में आये हैं। वही आकर जल्दी निश्चयबुद्धि बनेंगे। अगर कुछ भी नहीं समझते हैं तो पूछना चाहिए। पूरी रीति समझें तो बाप को भी याद करें। समझेंगे नहीं तो याद भी नहीं कर सकेंगे। यह तो सीधी बात है। हम आत्मायें जो सतोप्रधान थी वही फिर तमोप्रधान बनी हैं, जिनको यह संशय होगा कि कैसे समझें हम 84 जन्म लेते हैं वा बाप से कल्प पहले भी वर्सा लिया है, वह तो पढ़ाई में पूरा ध्यान ही नहीं देंगे। समझा जाता है इनकी तकदीर में नहीं है। कल्प पहले भी नहीं समझा था इसलिए याद कर नहीं सकेंगे। यह है ही भविष्य के लिए पढ़ाई। नहीं पढ़ते हैं तो समझा जाता है कल्प-कल्प नहीं पढ़ते थे अथवा थोड़ी मार्क्स से पास हुए थे। स्कूल में बहुत फेल भी होते हैं। पास भी नम्बरवार ही होते हैं। यह भी पढ़ाई है, इसमें नम्बरवार पास होंगे। जो होशियार हैं वह तो पढ़कर फिर पढ़ाते रहेंगे। बाप कहते हैं मैं तुम बच्चों का सर्वेन्ट हूँ। बच्चे भी कहते हैं कि हम भी सर्वेन्ट हैं। हर एक भाई-बहन का कल्याण करना है। बाप हमारा कल्याण करता है, हमको फिर औरों का कल्याण करना है। सबको यह भी समझाना है, बाप को याद करो तो पाप कट जाएं। जितना-जितना जो बहुतों को पैगाम पहुँचाते हैं, उन्हें बड़ा पैगम्बर कहेंगे। उनको ही महारथी अथवा घोड़ेसवार कहा जाता है। प्यादे फिर प्रजा में चले जाते हैं। इसमें भी बच्चे समझते हैं कौन-कौन साहूकार बन सकेंगे। यह ज्ञान बुद्धि में रहना चाहिए। तुम बच्चे जो सर्विस के लिए निमित्त बने हुए हो, सर्विस के लिए ही जीवन दी हुई है तो पद भी ऐसे पायेंगे। उनको किसी की परवाह नहीं रहती। मनुष्य अपने हाथ-पांव वाला है ना। बांधा तो नहीं जा सकता। अपने को स्वतंत्र रख सकते हैं। ऐसे क्यों बंधन में फसूँ? क्यों न बाप से अमृत लेकर अमृत का ही दान करूँ। मैं कोई रिढ़-बकरी थोड़ेही हूँ जो कोई हमको बांधे। शुरू में तुम बच्चों ने कैसे अपने को छुड़ाया, रड़िया मारी, हाय-हाय कर बैठ गये। तुम कहेंगे हमको क्या परवाह है, हमको तो स्वर्ग की स्थापना करनी है या यह काम बैठ करने हैं। वह मस्ती चढ़ जाती है, जिसको मौलाई मस्ती कहा जाता है। हम मौला के मस्ताने हैं। तुम जानते हो मौला से हमको क्या प्राप्त हो रहा है। मौला हमको पढ़ा रहे हैं ना। नाम तो उनके बहुत हैं परन्तु कोई-कोई नाम बहुत मीठे हैं। अभी हम मौलाई मस्त बने हैं। बाप डायरेक्शन तो बहुत सिम्पल देते हैं। बुद्धि भी समझती है-बरोबर हम बाप को याद करते-करते सतोप्रधान बन जायेंगे और विश्व के मालिक भी बनेंगे। यही तात लगी हुई है। बाप को हरदम याद करना चाहिए। सामने बैठे हो ना। यहाँ से बाहर निकले और भूल जायेंगे। यहाँ जितना नशा चढ़ता है उतना बाहर में नहीं रहता, भूल जाते हैं। तुमको भूलना नहीं चाहिए। परन्तु तकदीर में नहीं है तो यहाँ बैठे भी भूल जाते हैं।

बच्चों के लिए म्युजियम में और गाँव-गाँव में सर्विस करने के लिए प्रबन्ध हो रहे हैं। जितना भी समय मिला है, बाप तो कहते हैं जल्दी-जल्दी करो। परन्तु ड्रामा में जल्दी हो नहीं सकती। बाप तो कहते ऐसी मशीनरी हो जो हाथ डालें और चीज़ तैयार हो जाए। यह भी बाप समझाते रहते हैं-अच्छे-अच्छे बच्चों को माया नाक और कान से अच्छी रीति पकड़ती है। जो अपने को महावीर समझते हैं उन्हों को ही माया के बहुत त़ूफान आते हैं फिर वह किसकी भी परवाह नहीं करते। छिपा लेते हैं। आन्तरिक दिल सच्ची नहीं है। सच्ची दिल वाले ही स्कॉलरशिप पाते हैं। शैतानी दिल चल न सके। शैतानी दिल से अपना ही बेडा गर्क करते हैं। सबका शिवबाबा से काम है। यह तो तुम साक्षात्कार करते हो। ब्रह्मा को भी बनाने वाला शिवबाबा है। शिवबाबा को याद करें तब ऐसा बनें। बाबा समझते हैं माया बड़ी जबरदस्त है। जैसे चूहा काटता है तो मालूम भी नहीं पड़ता है, माया भी ऐसी मस्त चूही है। महारथियों को ही खबरदार रहना है। वह खुद समझते नहीं हैं कि हमको माया ने गिरा दिया है। लूनपानी बना दिया है। समझना चाहिए लूनपानी होने से हम बाप की सर्विस कर नहीं सकेंगे। अन्दर ही जलते रहेंगे। देह-अभिमान है तब जलते हैं। वह अवस्था तो है नहीं। याद का जौहर भरता नहीं है, इसलिए बहुत खबरदार रहना चाहिए। माया बड़ी तीखी है, जबकि तुम युद्ध के मैदान पर हो तो माया भी छोड़ती नहीं। आधा-पौना तो खत्म कर देती है, किसको पता भी नहीं पड़ता है। कैसे अच्छे-अच्छे, नये-नये भी पढ़ाई बन्दकर घर में बैठ जाते हैं। अच्छे-अच्छे नामीग्रामी पर भी माया का वार होता है। समझते हुए भी बेपरवाह हो जाते हैं। थोड़ी बात में झट लून-पानी हो पड़ते हैं। बाप समझाते हैं देह-अभिमान के कारण ही लून-पानी होते हैं। स्वयं को धोखा देते हैं। बाप कहेंगे यह भी ड्रामा। जो कुछ देखते हैं कल्प पहले मिसल ड्रामा चलता रहता है। नीचे-ऊपर अवस्था होती रहती है। कभी ग्रहचारी बैठती है, कभी बहुत अच्छी सर्विस कर खुशखबरी लिखते हैं। नीचे-ऊपर होता रहता है। कभी हार, कभी जीत। पाण्डवों की माया से कभी हार, कभी जीत होती है। अच्छे-अच्छे महारथी भी हिल जाते हैं, कई मर भी जाते हैं इसलिए जहाँ भी रहो बाप को याद करते रहो और सर्विस करते रहो। तुम निमित्त बने हुए हो सर्विस के लिए। तुम लड़ाई के मैदान में हो ना। जो बाहर वाले घर गृहस्थ व्यवहार में रहते हैं, यहाँ वालों से भी बहुत तीखे जा सकते हैं। माया के साथ पूरी युद्ध चलती रहती है। सेकेण्ड बाई सेकेण्ड तुम्हारा कल्प पहले मिसल पार्ट चलता आया है। तुम कहेंगे इतना समय पास हो गया, क्या-क्या हुआ है, वह भी बुद्धि में है। सारा ज्ञान बुद्धि में है। जैसे बाप में ज्ञान है, इस दादा में भी आना चाहिए। बाबा बोलते हैं तो जरूर दादा भी बोलते होंगे। तुम भी जानते हो कौन-कौन अच्छे दिल साफ हैं। दिल साफ वाले ही दिल पर चढ़ते हैं। उनमें लूनपानी का स्वभाव नहीं रहता है, सदैव हर्षित रहते हैं। उनका मूड कभी फिरेगा नहीं। यहाँ तो बहुतों की मूड फिर जाती है। बात मत पूछो। इस समय सभी कहते भी हैं हम पतित हैं। अभी पतित-पावन बाप को बुलाया है कि आकर पावन बनाओ। बाप कहते हैं-बच्चों, मुझे याद करते रहो तो तुम्हारे कपड़े साफ हों। मेरी श्रीमत पर चलो। श्रीमत पर न चलने वाले का कपड़ा साफ नहीं होता। आत्मा शुद्ध होती ही नहीं। बाप तो दिन-रात इस पर ही जोर देते हैं-अपने को आत्मा समझो। देह-अभिमान में आने से ही तुम घुटका खाते हो। जितना-जितना ऊपर चढ़ते जाते हो, खुशनुम: होते जाते हो और हर्षितमुख रहता है। बाबा जानते हैं अच्छे-अच्छे फर्स्टक्लास बच्चे हैं परन्तु अन्दरूनी हालत देखो तो गल रहे हैं। देह-अभिमान की आग जैसे गला रही है। समझते नहीं हैं, यह बीमारी फिर कहाँ से आई। बाप कहते हैं देह-अभिमान से यह बीमारी आती है। देही-अभिमानी को कभी बीमारी नहीं लगेगी। बहुत अन्दर में जलते रहते हैं। बाप तो कहते हैं-बच्चे, देही-अभिमानी भव। पूछते हैं यह रोग क्यों लगा है? बाप कहते हैं यह देह-अभिमान की बीमारी ऐसी है, बात मत पूछो। कोई को यह बीमारी लगती है तो एकदम चिचड़ होकर लगती है (चिपक जाती है), छोड़ती ही नहीं है। श्रीमत पर न चल अपने देह-अभिमान में चलते हैं तो चोट बड़े ज़ोर से लगती है। बाबा के पास तो सब समाचार आते हैं। माया कैसे एकदम नाक से पकड़ गिरा देती है। बुद्धि बिल्कुल मार डालती है। संशय बुद्धि बन पड़ते हैं। भगवान को बुलाते हैं कि आकर हमको पत्थरबुद्धि से पारसबुद्धि बनाओ और फिर उनके भी विरुद्ध हो जाते, तो क्या गति होगी! एकदम गिरकर पत्थरबुद्धि बन जाते हैं। बच्चों को यहाँ बैठे यह खुशी रहनी चाहिए, स्टूडेन्ट लाइफ इज दी बेस्ट यह है। बाप कहते हैं इनसे और कोई पढ़ाई ऊंच है क्या? दी बेस्ट तो यह है, 21 जन्मों का फल देती है, तो ऐसी पढ़ाई में कितना अटेन्शन देना चाहिए। कोई तो बिल्कुल अटे-न्शन नहीं देते हैं। माया नाक-कान एकदम काट लेती है। बाप खुद कहते हैं आधाकल्प इनका राज्य चलता है तो ऐसा पकड़ लेती है जो बात मत पूछो, इसलिए बहुत खबरदार रहो। एक-दो को सावधान करते रहो। शिवबाबा को याद करो नहीं तो माया कान नाक काट लेगी। फिर कोई काम के नहीं रहेंगे। बहुत समझते भी हैं कि हम लक्ष्मी-नारायण का पद पायें, इम्पासिबुल है। थक कर फाँ हो जाते हैं। माया से हार खाकर एकदम किचड़े में जाकर पड़ते हैं। देखो, हमारी बुद्धि बिगड़ती है तो समझना चाहिए माया ने नाक से पकड़ा है। याद की यात्रा में बहुत बल है। बहुत खुशी भरी हुई है। कहते भी हैं खुशी जैसी खुराक नहीं। दुकान में ग्राहक आते रहते हैं, कमाई होती रहती है तो कभी उनको थकावट नहीं होगी। भूख नहीं मरेंगे। बड़ी खुशी में रहते हैं। तुमको तो अथाह (बेशुमार) धन मिलता है। तुम्हें तो बहुत खुशी रहनी चाहिए। देखना चाहिए-हमारी चलन दैवी है या आसुरी है? समय बहुत थोड़ा है। अकाले मृत्यु की भी जैसे रेस है। एक्सीडेंट आदि देखो कितने होते रहते हैं। तमोप्रधान बुद्धि होते जाते हैं। बरसात जोर से पड़ेगी, उनको भी कुदरती एक्सीडेंट कहेंगे। मौत सामने आया कि आया। समझते भी हैं एटॉमिक बाम्ब्स की लड़ाई छिड़ जायेगी। ऐसे-ऐसे ख़ौफनाक काम करते हैं, तंग कर देंगे तो फिर लड़ाई भी छिड़ जायेगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) मौलाई मस्ती में रहकर स्वयं को स्वतंत्र बनाना है। किसी भी बन्धन में नहीं बंधना है। माया चूही से बहुत-बहुत सम्भाल करनी है, खबरदार रहना है। दिल में कभी भी शैतानी ख्याल न आयें।

2) बाप द्वारा जो बेशुमार धन (ज्ञान का) मिलता है, उसकी खुशी में रहना है। इस कमाई में कभी भी संशयबुद्धि बन थकना नहीं है। स्टूडेन्ट लाइफ दी बेस्ट लाइफ है इसलिए पढ़ाई पर पूरा-पूरा ध्यान देना है।

वरदान:- सर्व प्राप्तियों के खजानों को स्मृति स्वरूप बन कार्य में लगाने वाले सदा सन्तुष्ट आत्मा भव
संगमयुग का विशेष वरदान सन्तुष्टता है और सन्तुष्टता का बीज सर्व प्राप्तियां हैं। असन्तुष्टता का बीज स्थूल वा सूक्ष्म अप्राप्ति है। ब्राह्मणों का गायन है अप्राप्त नहीं कोई वस्तु ब्राह्मणों के खजाने में। सभी बच्चों को एक द्वारा एक जैसा अखुट खजाना मिलता है। सिर्फ उन प्राप्त हुए खजानों को हर समय कार्य में लगाओ अर्थात् स्मृति स्वरूप बनो। बेहद की प्राप्तियों को हद में परिवर्तन नहीं करो तो सदा सन्तुष्ट रहेंगे।
स्लोगन:- जहाँ निश्चय है वहाँ विजय के तकदीर की लकीर मस्तक पर है ही।

TODAY MURLI 16 NOVEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 16 November 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 15 November 2018 :- Click Here

16/11/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to become spiritual guides and go on this pilgrimage and enable others to go on it. This remembrance is your pilgrimage. Continue to have remembrance and your mercury of happiness will rise.
Question: Which sanskars disappear and which sanskars remain as soon as you go to the incorporeal world?
Answer: There, the sanskars of knowledge disappear and only the sanskars of the reward remain. It is on the basis of these sanskars that you experience your reward in the golden age. The sanskars of studying and making effort do not remain there. Once you receive your reward, this knowledge ends.
Song: O traveller of the night do not become weary. The destination of dawn is not far off.

Om shanti. Here, God Shiva speaks to you personally. It says in the Gita that God Shri Krishna speaks. However, Krishna cannot personally appear in front you with that same name and form. It is incorporeal God who speaks and He speaks to you personally. If they say: “God Krishna speaks”, it is as though they are referring to a corporeal being. Those who relate the Vedas and scriptures would never say “God speaks”, because those sages, holy men and mahatmas etc. are all corporeal. The Father says: O spiritual travellers. The spiritual Father would surely say to souls: Children, don’t become weary. Some become weary while on a pilgrimage, and so they turn back. Those are physical pilgrimages. They visit many different temples while going on a physical pilgrimage. Some visit the Shiva Temple where all the physical images of the path of devotion are kept. That Supreme Spirit, the Supreme Father, the Supreme Soul, gives you this knowledge and says to you souls: O children, connect your intellects in yoga to Me alone. When people go on those pilgrimages, there are brahmin priests sitting there who sing and relate stories from the scriptures to them. However, yours is only the one true story of becoming a true Narayan, that is, of becoming Narayan from an ordinary man. You understand that you will first go to the sweet home and that you will later come down to the land of Vishnu. At this time you are in the land of Brahma. This is called your parents’ home. You don’t have any jewellery etc. because you are in your parents’ home. You understand that you are to receive limitless happiness in your in-laws’ home. Here, in your iron-aged in-laws’ home, there is limitless sorrow. You have to go across to that land of happiness. You have to be transferred from here. The Father will seat you all in His eyes and take you home. Krishna’s father has been portrayed carrying him across the river in a basket. Here, the unlimited Father takes you children across to your in-laws’ home. First, He will take you to your incorporeal home and later send you to your in-laws’ home. You will forget all of these aspects of the in-laws’ home and the parents’ home. That is your incorporeal Parent’s home. There, you will have forgotten this knowledge. The sanskars of knowledge will have disappeared and only the sanskars of your reward will remain. Then the only awareness you children will have will be of your reward. You will go and take a birth of happiness according to your reward. You have to go to the land of happiness. Once you receive your reward, this knowledge finishes. You understand that the same acts of the reward will take place again. Your sanskars will become those of the reward. Your sanskars are now those of making effort. It is not that the sanskars of both effort and reward will remain there; no. This knowledge does not remain there. This is your spiritual pilgrimage and the Father is your Chief Guide. In fact, you also become spiritual guides and take everyone along with you. Those guides are physical, whereas you guides are spiritual. They go to Amarnath with great pomp and splendour. Large groups go especially to Amarnath with pomp and splendour. Baba has seen many sages and holy men etc. take musical instruments there. They also take a doctor along with them because the climate there is cold and some fall ill. Your pilgrimage is very easy. The Father says: Your pilgrimage is one of remembrance. The main thing is remembrance. The mercury of happiness of you children will remain high if you continue to have remembrance. You also have to take others along with you on this pilgrimage. This pilgrimage only takes place once. Those physical pilgrimages begin to take place on the path of devotion, but they don’t begin right at the beginning. It is not that the temples and images are made straightaway; they are made gradually later on. First, the temple to Shiva will be built. They first build a Somnath temple (image of Shiva) in their homes, so that there is no need to go anywhere. All of those temples etc. are built later on. It takes a great deal of time because the new scriptures, new pictures, new temples continue to be made very slowly. It takes timebecause there also have to be those who study the scriptures. It is when the cult etc. increase that the thought arises to create scriptures. It takes time to create so many pilgrimage places, so many temples and pictures. Although it is said that the path of devotion begins in the copper age, it still takes time. The degrees continue to decrease. Devotion is at first unadulterated and it then becomes adulterated later. The evidence of all these aspects has been shown very clearly in the pictures. Those who explain should use their intellects on how they should make such pictures to explain these various aspects. These ideas are not in everyone’s intellect; all are numberwise. Some are not able to use their intellects at all for this, and so they receive a status accordingly. It is understood what they will become. As you go further, you will understand this more. When war takes place you will see everything practically. You will then repent a great deal. You will not be able to study at that time. At the time of war, there will be cries of distress; you will not be able to listen to them. Who knows what will happen? You saw what happened at the time of partition. The time of destruction is very severe. Yes, you will receive many visions through which you will come to know how much each one has studied. There will be a great deal of repentance and you will also receive visions. You stopped studying and this is why your condition has become such. How can Dharamraj punish you without first giving you a vision? He will give visions of everything. You will not be able to do anything at that time. You will say: “Oh! my destiny! The time for making effort will have ended. Therefore, the Father says: Why not make effort now? It is by doing service that you will climb on to the Father’s heart throne. The Father would say: This child is doing good service. If a military person dies, his colleagues, friends and relatives are also given an award. Here, it is the unlimited Father who gives you the award. You receive the award for your future 21 births from the Father. Each one of you should place your hand on your heart and ask yourself how much you study. If you are unable to imbibe knowledge, it would be said that it is not in your fortune. It would be said that your karma is not so good. Those who have performed a lot of bad actions cannot take in any of this knowledge. The Father explains: Sweet children, you also have to take your companions with you on this spiritual pilgrimage. It is your duty to tell everyone about this pilgrimage. Tell them that this pilgrimage of ours is spiritual whereas other pilgrimages are physical. They show a magic lake near Rangoon. It is said that by bathing in it, you can become a fairy. However, no one becomes a fairy. It is a question of bathing in knowledge through which you become an empress of Paradise. It is a common thing for you to go and come from Paradise through the powers of knowledge and yoga. In fact, you are stopped from repeatedly going into trance, as that would become a habit. Therefore, this is the Mansarovar of knowledge. The Supreme Father, the Supreme Soul, comes and gives you this knowledge through this human body. This is why it is called Mansarovar. The meaning of the word ‘Mansarovar’ comes from the ocean; it is very good to bathe in the ocean of knowledge. The wife (of an emperor) in Paradise is called an empress. The Father says: You too become the masters of Paradise. There is love for the children. There is mercy for all. There is also mercy for the holy men. It is written in the Gita that God also uplifts the holy men. Upliftment takes place through knowledge and yoga. You children need to be very alert and active in order to explain to others. Tell them: Everything you know is like buttermilk. You do not know the One who gives the butter. The Father explains everything to you very clearly, but it all depends on how much of it sits in your intellects. By recognizing the Father, human beings become like diamonds. By not knowing Him, human beings become like shells and completely impure. By knowing the Father, they become pure. There is no one pure in the impure world. The children who are maharathis will be able to explain these aspects very well. There are many Brahma Kumars and Kumaris. The name Prajapita Brahma is renowned. You are the mouth-born children of Prajapita Brahma. Brahma has been portrayed with 100 arms and 1000 arms. It has also been explained that Brahma cannot have that many arms. Brahma has many children. Whose child is Brahma? He too has a Father. Brahma is Shiv Baba’s child. Who else could be his father? It cannot be a human being. Brahma, Vishnu and Shankar are remembered as residents of the subtle region; they cannot come here. Brahma, the Father of People, would surely be here. He cannot create people in the subtle region. Therefore, the Supreme Father, the Supreme Soul, comes and creates the Shakti Army through the mouth of Brahma. You first have to introduce yourselves as the mouth-born children of Brahma. Tell them that they too are the children of Brahma. Prajapita Brahma is the father of all. Later, other generations emerge from him and then the names keep changing. You are now Brahmins. You can see how many children Prajapita Brahma has in a practical way. The children must surely receive the inheritance. Brahma does not have any property. It is Shiv Baba who has all the property. Brahma is Shiva’s son. You receive your inheritance from the unlimited Father. Shiv Baba sits here and teaches you through Brahma. You receive your inheritance from the Grandfather. Baba explains a great deal, but you don’t have yoga. What can the Father do if you do not do things according to the law? The Father says: That is your fortune! If you were to ask Baba, Baba could tell you what status you would receive from your present condition. Your heart is the witness to tell you how much service you do and to what extent you follow shrimat. Shrimat says: Manmanabhav! Continue to give everyone the introduction of the Father and the inheritance. Continue to beat these drums. Baba continues to give you a signal that you have to explain to the Government, so that they too can understand that the strength of Bharat has definitely been lost. There is no yoga with the Supreme Father, the Supreme Soul, the Almighty Authority. When you have yoga with Him, you are able to conquer Maya and thereby become the masters of the world. You have to conquer Maya while living at home with your families. The Father is our Helper. So much is explained to you, but you have to imbibe it. Baba has explained: Wealth is not reduced by donating it. Only when you do service will you climb on to Baba’s heart throne. Otherwise, it is impossible. This does not mean that Baba does not love you. Baba loves the serviceable ones. You have to make effort to make everyone worthy of going on the pilgrimage. Manmanabhav! This is a spiritual pilgrimage. Remember Me and you will come to Me. After going to the land of Shiva, you will go to the land of Vishnu. Only you children know these things. Although they study a great deal, none of them understands the meaning of “Manmanabhav”. The Father gives you this great mantra: Remember Me and you will become conquerors of sin. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Bathe in knowledge. Serve others with love and climb on to the Father’s heart throne. Do not become careless at this time of making effort.
  2. You have to go across this iron-aged land of sorrow to the land of happiness by sitting on the Father’s eyelids. Therefore, transfer everything you have.
Blessing: May you merge yourself in the Ocean of Love and remove the dirt of any consciousness of “I” and become a pure soul.
Those who remain constantly merged in the Ocean of Love have no consciousness of anything of the world. Because of being merged in love, they easily go beyond all situations. It is said of devotees that they are lost in God, but children are constantly drowned (merged) in love. They have no awareness of the world, and all consciousness of “mine” finishes. All the many types of “mine” make you dirty, but when just the one Father is “mine”, the dirt is removed and the soul becomes pure.
Slogan: To instil and make others instil the jewels of knowledge into the intellect is to be a holy swan.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 16 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 November 2018

To Read Murli 15 November 2018 :- Click Here
16-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें रूहानी पण्डा बन यात्रा करनी और करानी है, याद ही तुम्हारी यात्रा है, याद करते रहो तो खुशी का पारा चढ़े”
प्रश्नः- निराकारी दुनिया में जाते ही कौन-से संस्कार समाप्त हो जाते और कौन से संस्कार रह जाते हैं?
उत्तर:- वहाँ नॉलेज के संस्कार समाप्त हो जाते, प्रालब्ध के संस्कार रह जाते हैं। जिन संस्कारों के आधार पर तुम बच्चे सतयुग में प्रालब्ध भोगते हो, वहाँ फिर पढ़ाई का वा पुरुषार्थ का संस्कार नहीं रहता है। प्रालब्ध मिल गई फिर ज्ञान ख़त्म हो जाता है।
गीत:- रात के राही थक मत जाना……..

ओम् शान्ति। यहाँ सम्मुख शिव भगवानुवाच है। गीता में दिखाते हैं – श्रीकृष्ण भगवानुवाच परन्तु कृष्ण तो उस नाम-रूप से सम्मुख हो न सके। यह तो सम्मुख कहते हैं, निराकार भगवानुवाच। कृष्णवाच कहें तो वह साकार हो जाता है। जो भी वेद-शास्त्र आदि सुनाते हैं, वह ऐसे नहीं कहेंगे कि भगवानुवाच क्योंकि वह साधू, सन्त, महात्मा आदि सब साकार में बैठे हैं। और फिर बाप कहते हैं – हे रूहानी राही। रूहानी बाप जरूर रूहों को ही कहेंगे कि बच्चे, थक मत जाना। यात्रा पर कई थक जाते हैं तो फिर वापस आ जाते हैं। वह है जिस्मानी यात्रा। भिन्न-भिन्न मन्दिरों में जिस्मानी तीर्थ यात्रा करने जाते हैं। कोई शिव के मन्दिर में जाते हैं, वहाँ सब जिस्मानी चित्र रखे हैं भक्ति मार्ग के। यह तो सुप्रीम रूह परमपिता परमात्मा आत्माओं को कहते हैं कि हे बच्चे, अब मुझ एक के साथ बुद्धि का योग लगाओ और ज्ञान भी देते हैं। तीर्थों पर जाते हैं तो वहाँ भी ब्राह्मण लोग बैठे हैं, कथा-कीर्तन करते हैं। तुम्हारी तो एक ही सत्य नारायण की कथा है, नर से नारायण बनने की। तुम जानते हो पहले स्वीट होम में जायेंगे फिर विष्णुपुरी में आयेंगे। इस समय तुम हो ब्रह्मापुरी में, इसको पियरघर कहा जाता है। तुमको जेवर आदि कुछ नहीं हैं क्योंकि तुम पियरघर में हो। तुम जानते हो ससुरघर में हमको अपार सुख मिलने हैं। यहाँ कलियुगी ससुरघर में तो अपार दु:ख हैं। तुमको तो जाना है उस पार सुखधाम में। यहाँ से ट्रांसफर होना है। बाप सभी को नयनों पर बिठाकर ले जाते हैं। दिखाते हैं ना कृष्ण का बाप उनको टोकरी में बिठाकर उस पार ले गया तो यह बेहद का बाप तुम बच्चों को उस पार ससुरघर ले जाते हैं। पहले अपने निराकारी घर में ले जायेंगे फिर ससुरघर भेज देंगे। तो वहाँ यह सब पियरघर, ससुरघर की बातें भूल जायेंगी। वह है निराकारी पियरघर, वहाँ यह नॉलेज भूल जाती है, नॉलेज के संस्कार निकल जाते हैं, बाकी प्रालब्ध के संस्कार रह जाते हैं। फिर तुम बच्चों को प्रालब्ध ही ध्यान में रहती है। प्रालब्ध अनुसार जाकर सुख के जन्म लेंगे। सुखधाम जाना है। प्रालब्ध मिल गई फिर ज्ञान ख़त्म। तुम जानते हो प्रालब्ध में हमारी फिर वही एक्ट चलेगी। तुम्हारे संस्कार ही प्रालब्ध के हो जायेंगे। अभी हैं पुरुषार्थ के संस्कार। ऐसे नहीं कि पुरुषार्थ और प्रालब्ध दोनों संस्कार वहाँ रहेंगे। नहीं, वहाँ यह ज्ञान नहीं रहता। तो यह तुम्हारी रूहानी यात्रा है, तुम्हारा चीफ पण्डा है बाप। यूं तो तुम भी रूहानी पण्डे बन जाते हो, सबको साथ में ले जाते हो। वह हैं जिस्मानी पण्डे, तुम हो रूहानी पण्डे। वह लोग अमरनाथ पर बड़े धूमधाम से जाते हैं, झुण्ड के झुण्ड ख़ास अमरनाथ पर बहुत धूमधाम से जाते हैं। बाबा ने देखा है कितने साधू-सन्त बाजे गाजे ले जाते हैं। साथ में डॉक्टर आदि भी ले जाते हैं क्योंकि ठण्डी का समय होता है। कई बीमार पड़ जाते हैं। तुम्हारी यात्रा तो बहुत सहज है। बाप कहते हैं याद में रहना ही तुम्हारी यात्रा है। याद मुख्य है। बच्चे याद करते रहें तो खुशी का पारा चढ़ा रहे। साथ में औरों को भी यात्रा पर ले जाना है। यह यात्रा एक ही बार होती है। वह जिस्मानी यात्रायें तो भक्ति मार्ग से शुरू होती हैं। वह भी कोई शुरूआत में नहीं होती। ऐसे नहीं कि फट से मन्दिर, चित्र आदि बन जाते हैं। वह तो आहिस्ते-आहिस्ते बाद में बनते जाते हैं। पहले-पहले शिव का मन्दिर बनेगा। वह भी पहले घर में सोमनाथ का मन्दिर बनाते हैं तो फिर कहाँ जाने की दरकार नहीं रहती। यह मन्दिर आदि बाद में बनते हैं, समय लगता है। आहिस्ते-आहिस्ते नये शास्त्र, नये चित्र, नये मन्दिर आदि बनते रहते। टाइम लगता है क्योंकि पढ़ने वाले भी चाहिए ना। मठ आदि जब वृद्धि को पायेंगे, फिर विचार होगा शास्त्र बनायें। तो इतने तीर्थस्थान बनें, मन्दिर बनें, चित्र बनें, टाइम लगता है ना। भल कहा जाता है कि भक्ति मार्ग द्वापर से शुरू होता है परन्तु टाइम तो लगता है ना। फिर कलायें कमती होती जायेंगी। पहले अव्यभिचारी भक्ति, फिर व्यभिचारी भक्ति हो जाती है। यह सब बातें अच्छी रीति चित्रों पर सिद्ध कर बताई जाती हैं। समझाने वालों की बुद्धि में यही चलता रहेगा कि ऐसे-ऐसे चित्र बनायें, यह समझायें। सबकी बुद्धि में नहीं चलेगा। नम्बरवार है ना। कोई की बुद्धि बिल्कुल चलती नहीं, वह फिर पद भी ऐसे पायेंगे। मालूम पड़ जाता है – यह क्या बनेंगे? जितना आगे चलेंगे – तुम समझते जायेंगे। जब लड़ाई आदि लगेगी फिर प्रैक्टिकल देख लेंगे। फिर बहुत पछतायेंगे। उस समय पढ़ाई तो हो न सके। लड़ाई के समय त्राहि-त्राहि होती रहेगी, सुन नहीं सकेंगे। पता नहीं क्या हो जायेगा। पार्टीशन हुआ तो क्या हो गया, देखा ना। यह विनाश का समय बहुत कड़ा है। हाँ, बाकी साक्षात्कार आदि बहुत होंगे, जिससे जान जायेंगे कि यह कितना पढ़ा है। बहुत पछतायेंगे भी और साक्षात्कार होंगे – देखो तुमने पढ़ाई छोड़ दी तब यह हाल हुआ है। धर्मराज साक्षात्कार कराने सिवाए सजायें कैसे देंगे? सब साक्षात्कार करायेंगे। फिर उस समय कर कुछ नहीं सकेंगे। कहेंगे हाय तकदीर। तदबीर का समय तो गया। तो बाप कहते हैं क्यों नहीं अभी पुरुषार्थ करते हो। सर्विस से ही दिल पर चढ़ेंगे। बाप कहेंगे यह बच्चे अच्छी सर्विस करते हैं। मिलेट्री का कोई मरता है तो उनके मित्र-सम्बन्धियों आदि को भी इनाम देते हैं। यहाँ तुमको इनाम देने वाला है बेहद का बाप। बाप से भविष्य 21 जन्मों के लिए इनाम मिलता है। यह तो हरेक को अपनी दिल पर हाथ रख पूछना है कि मैं कितना पढ़ता हूँ। धारणा नहीं होती तो गोया तकदीर में नहीं है। कहेंगे कर्म ही ऐसे फूटे हुए हैं। बहुत खराब कर्म करने वाले कुछ उठा नहीं सकते हैं।

बाप समझाते हैं – मीठे बच्चे, तुम्हें इस रूहानी यात्रा पर अपने साथियों को भी ले जाना है। फ़र्ज है हरेक को यह यात्रा की बात बताना। बोलो, हमारी यह रूहानी यात्रा है। वह है जिस्मानी। दिखाते हैं रंगून की तरफ एक छम-छम तलाव है, जहाँ स्नान करने से परी बन जाते हैं। लेकिन वह परी आदि तो बनते नहीं। यह है ज्ञान स्नान करने की बात, जिससे फिर तुम बहिश्त की बीबी बन जाते हो और ज्ञान-योगबल से वैकुण्ठ में आना-जाना तो तुम्हारे लिए कॉमन बात है। और ही तुमको रोका जाता है, घड़ी-घड़ी ध्यान में नहीं जाओ, आदत पड़ जायेगी। तो यह ज्ञान मान-सरोवर है, परमपिता परमात्मा आकर इस मनुष्य तन द्वारा ज्ञान सुनाते हैं, इसलिए इनको मान-सरोवर कहा जाता है। मान-सरोवर अक्षर सागर से निकला है। ज्ञान सागर में ज्ञान स्नान करना तो बहुत अच्छा है। बहिश्त की बीबी को महारानी कहा जाता है। बाप कहेंगे तुम भी बहिश्त के मालिक बनो। बच्चों पर लव रहता है। हरेक पर रहम पड़ता है, साधुओं पर भी रहम आता है। यह तो गीता में लिखा हुआ है कि साधुओं का भी उद्धार करते हैं। उद्धार होता है – ज्ञान योग से। तुम बच्चों में समझाने की बड़ी फुर्ती चाहिए। बोलो – तुम और तो सब जानते हो लेकिन छांछ जानते हो, बाकी मक्खन खिलाने वाले को तुम जानते ही नहीं हो। बाप कितना अच्छी रीति समझाते हैं। परन्तु किसकी बुद्धि में भी बैठे ना। बाप को जानने से मनुष्य हीरे जैसा बनते हैं, न जानने से मनुष्य कौड़ी मिसल, बिल्कुल पतित हैं। बाप को जानने से ही पावन बनते हैं। पतित दुनिया में कोई पावन हो न सके। तो जो महारथी बच्चे हैं, वह अच्छी रीति समझा सकेंगे। कितने ढेर ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं। प्रजापिता ब्रह्मा नाम भी मशहूर है। प्रजापिता ब्रह्मा के यह हैं मुख वंशावली। ब्रह्मा को ही 100 भुजा, 1000 भुजा दिखाते हैं। यह भी समझाया जाता है इतनी भुजायें तो हो नहीं सकती। बाकी ब्रहमा तो बहुत बचड़े वाला है। ब्रह्मा फिर किसका बच्चा? इनका तो बाप है ना। ब्रह्मा है शिवबाबा का बच्चा। इनका और कौन बाप हो सकता? मनुष्य तो कोई हो नहीं सकता। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर गाये जाते हैं सूक्ष्मवतन के। वह तो यहाँ आ न सकें। प्रजापिता ब्रह्मा तो जरूर यहाँ होगा ना। सूक्ष्मवतन में तो प्रजा नहीं रचेंगे। तो परमपिता परमात्मा आकर इस ब्रह्मा मुख द्वारा शक्ति सेना रचते हैं। पहले-पहले परिचय देना है हम ब्रह्मा मुख वंशावली हैं। तुम भी ब्रह्मा के बच्चे हो ना। प्रजापिता ब्रह्मा है सबका बाप। फिर उनसे और बिरादरियाँ निकलती हैं, नाम बदलते जाते हैं। अब तुम ब्राह्मण हो। प्रैक्टिकल में देखो प्रजापिता ब्रह्मा की कितनी औलाद हैं। जरूर औलाद को वर्सा मिलता होगा। ब्रह्मा के पास तो कोई प्रापर्टी है नहीं, प्रापर्टी है शिवबाबा के पास। ब्रह्मा वल्द शिव। बेहद के बाप से ही वर्सा मिलता है। ब्रह्मा द्वारा शिवबाबा बैठ पढ़ाते हैं। हमको दादे का वर्सा मिलता है। बाबा समझाते तो बहुत हैं, परन्तु योग नहीं। कायदे पर नहीं चलते तो बाप भी क्या करे। बाप कहते हैं इनकी तकदीर। अगर बाबा से पूछें तो बाबा बता सकते हैं – इस हालत में तुम्हारा क्या पद होगा? दिल भी गवाही देता है, मैं कितनी सर्विस करता हूँ? श्रीमत पर कहाँ तक चलता हूँ? श्रीमत कहती है मनमनाभव। सबको बाप और वर्से का परिचय देते रहते हैं, ढिंढोरा भी पीटते रहते हैं। बाबा ईशारा देते रहते हैं, तुम्हें गवर्मेन्ट को भी समझाना है। जो वह भी समझें बरोबर भारत की ताकत ही चली गई है। परमपिता परमात्मा सर्वशक्तिमान से योग ही नहीं है। इनसे तुम योग लगाते हो तो एकदम विश्व के मालिक बनते हो, माया पर भी तुम जीत पहनते हो। गृहस्थ व्यवहार में रहते माया पर जीत पानी है। हमारा मददगार बाप है। कितना समझाया जाता है, धारणा करनी चाहिए। बाबा ने समझाया है धन दिये धन ना खुटे। सर्विस करेंगे तब बाबा की दिल पर चढ़ सकेंगे। नहीं तो इम्पासिबुल है। इसका मतलब यह नहीं कि बाबा प्यार नहीं करते। बाबा प्यार सर्विसएबुल को करेंगे। मेहनत करनी चाहिए। सबको यात्रा लायक बनाते हैं। मनमनाभव। यह है रूहानी यात्रा, मुझे याद करो तो तुम मेरे पास पहुँच जायेंगे। शिव पुरी में आकर फिर विष्णुपुरी में चले जायेंगे। यह बातें सिर्फ तुम बच्चे जानते हो। कोई और मनमनाभव का अर्थ समझते नहीं, पढ़ते तो बहुत हैं। बाप महामंत्र देते हैं, मुझे याद करो तो तुम विकर्माजीत बन जायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ज्ञान स्नान करना है। प्यार से सर्विस कर बाप के दिलतख्त पर बैठना है। पुरुषार्थ के समय में अलबेला नहीं बनना है।

2) बाप की पलकों पर बैठ कलियुगी दु:खधाम से सुखधाम चलना है इसलिए अपना सब कुछ ट्रांसफर कर देना है।

वरदान:- स्नेह के सागर में समाकर मेरे पन की मैल को समाप्त करने वाले पवित्र आत्मा भव
जो सदा स्नेह के सागर में समाये रहते हैं उनको दुनिया की किसी भी बात की सुधबुध नहीं रहती। स्नेह में समाये होने के कारण वे सब बातों से सहज ही परे हो जाते हैं। भक्तों के लिए कहते हैं यह तो खोये हुए रहते हैं लेकिन बच्चे सदा प्रेम में डूबे हुए रहते हैं। उन्हें दुनिया की स्मृति नहीं, मेरा-मेरा सब खत्म। अनेक मेरा मैला बना देता है, एक बाप मेरा तो मैलापन समाप्त हो जाता और आत्मा पवित्र बन जाती है।
स्लोगन:- बुद्धि में ज्ञान रत्नों को ग्रहण करना और कराना ही होलीहंस बनना है।
Font Resize