16 june ki murli

TODAY MURLI 16 JUNE 2021 DAILY MURLI (English)

16/06/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have the limitless treasure of the imperishable jewels of knowledge. Donate them. No one should go away from your door empty handed.
Question: What shrimat does the Father, who is the Saccharine of all relationships, give His children?
Answer: Sweet children, remove your intellects’ yoga from everyone else and continue to remember Me alone. Nothing of this world, no friends or relatives, should be remembered, because everything at this time causes sorrow. In order to become a master of the world, you definitely have to make effort to settle your karmic accounts of 63 births. Forget everything and become bodiless, for only then will your accounts be settled. I am the Saccharine of all relationships.

Om shanti. BapDada asks you children: In whose remembrance are you sitting? (Shiv Baba’s). You should say loudly: We are sitting in remembrance of Shiv Baba. You children, that is, you souls have a connection with Shiv Baba. You belong to Shiv Baba through this one because Shiv Baba meets you through him. This one is called the agent in between. You don’t have any connection with the agent; he is the one in between through whom you go to that One. All the accounts of give and take should be with the Father, not with this one. Even this one’s give and take is with the Father. This one also says to that Father: Baba, everything of mine is Yours. Firstly, you have the faith that you are souls. Secondly, you souls also have the faith that you are now receiving your inheritance from the Supreme Father, the Supreme Soul. You become Shiv Baba’s helpers with your thoughts, words and deeds and your body, mind and wealth. You have surrendered all of that to Shiv Baba. Then Shiv Baba gives you directions: Do this and that in such-and-such a way. This is called shrimat. The Father Himself says: I enter this old body. This one is also becoming pure from impure. Who said this? Shiv Baba. This one is also becoming pure. Even his account is with Me. No one has any account with him. You write letters saying, “Shiv Baba c/o Brahma.” However, Maya is such that she doesn’t allow you to remember Baba constantly. She breaks your intellect’s yoga again and again. Make this effort firm and you will forget everything else. You will even forget your body. That body will exist but you, the soul, will dislike all those things. You must practise this in order to create that stage. At the end, we mustn’t even remember our bodies. The Father says: Consider yourselves to be bodiless and remember Me, your Father! I am constantly bodiless. You too were bodiless. You then played your parts. You now have to play your parts once again. This is the effort. It is not a small thing to become a master of the world! Only human beings can become the masters of the world. Those deities are still human beings, but they are called human beings with divine virtues. Lakshmi and Narayan were the masters of the world and they had their own children. Only they would call them “mother and father”, but, nowadays, because of blind faith, people even sing to Lakshmi and Narayan: “You are the Mother and Father.” In fact, this is the praise of Shiv Baba. People sing praise to the deities, “You are full of all virtues”, but no one knows why they worship them. You no longer sing such praise as “You are the Mother and Father.” Yes, you know that Shiv Baba is the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul. It is only through Him that you receive a lot of happiness. You only receive sorrow from all the rest of your relatives. That One is the Saccharine from whom you receive the sweetness of all relationships. This is why the Father says: Remove your intellects’ yoga from your father, uncles, etc. and constantly remember Me alone. You even sing: You are the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. The Bestower of Salvation for All is only the One. He is our everything. Sorrow is received even from a physical father. However, a teacher doesn’t cause anyone sorrow. By studying with a teacher, you earn a livelihood for your body. There are also those who teach certain skills. They all teach for a temporary period. Even on the path of devotion, they only praise one Rama, the Supreme Father, the Supreme Soul. They all remember Him alone. In fact, devotion should be done of only One. Only He makes you worthy of worship. At first, you only worship Shiv Baba. That is called satopradhan worship. Then, from being satopradhan, souls become sato, rajo and tamo. You understand that you become worshippers. At first, you only used to worship Shiv Baba and then your degrees decreased. From being satopradhan, devotion also becomes sato, rajo and tamo. The whole drama is based on you. You were worthy of worship and you then became worshippers. The story is of those who take the full 84 births. The Father sits here and tells them how they have taken 84 births. The account is of those who first become worthy-of-worship deities and then become worshippers. The Father says: I come to teach you every cycle and to establish the deity religion. I teach you Raja Yoga. In the Gita, by mistake they have said, “God Krishna speaks.” There can only be one God. They say that God is in every stone and pebble or that He is in every particle, but it cannot be like that. The praise of God is infinite. You say: O Baba, Your ways and means are unique! This means that the shrimat you receive from Him is unique. The Father is called the Bestower of Liberation and Salvation, the Supreme Father, the Supreme Soul. The intellect goes upwards. Only He is remembered at a time of sorrow. If Rama and Sita were in your intellects, there would be the whole Ramayana in your intellects. You call out to that one Father. You must not connect your intellects to any corporeal human being or subtle deity but only to the one Father. Only the one Father is the Purifier. In any spiritual gathering that people go to, they only sing: “The Purifier is the Rama of Sita!” However, there is no meaning to that. All of that is the praise of the path of devotion. All are in the jail of Ravan. Many people wander around on the path of devotion. There is no question of wandering here. The Father says: The intellects of you children have to imbibe these points very well. Study regularly! If, due to any reason, you are unable to go to class in the morning, go in the afternoon. Don’t cause anyone trouble. You have the whole day. Go and study at any time. These daughters are on service from morning till night. The service stations are open all day long. Show the path to anyone who comes. First of all, tell them to think about how they have two fathers. They remember the Father from beyond this world at a time of sorrow. Now Shiv Baba says: Constantly remember Me alone! Death is just standing ahead. This is that same Mahabharat War. Although big millionaires and billionaires build huge buildings, none of them will remain; all of them will be destroyed. They think that the duration of the iron age is hundreds of thousands of years. That is called extreme darkness. When someone who has a lot of money asks if he can build a building, Baba replies: If you have the money, you can do that. Otherwise, even that money is going to turn to dust. This is all temporary. All of that money would also be wasted. Nothing will remain. Therefore, you may build it and make arrangements for a Gita Pathshala. Give those who come to your doorstep such alms that you make them into the masters of the world. You have a lot of wealth of knowledge. No one else has this much. The wealthiest among you are those whose intellects are full of the jewels of knowledge. Fill the aprons of those who come to you. You have so many treasures! Simply put up a board: Come inside and we will show you the path to claim the inheritance of constant happiness of heaven. However, children don’t have this intoxication. They have intoxication here but, as soon as they leave, they forget. There has to be that interest in showing the path to others who come so that their boats can go across. You have great wealth. You can give many jewels to a beggar or a millionaire who comes to you. Baba makes you intoxicated here but then, it becomes like soda water. Baba fills your aprons with the imperishable jewels of knowledge. However, it is numberwise; if it is in someone’s fortune, he imbibes them fully. Baba says: Try to stay in constant remembrance. Don’t think that you have to go to a centre and just sit down quietly somewhere. No; whenever you have a moment, while walking and moving around, continue to remember the Father. Let your hands continue to do the work and your heart, that is, your intellect, remain connected in yoga to the Father. There will be great benefit for you by your having remembrance of the Father; you will become wealthy for 21 births. The unlimited Father gives you the unlimited inheritance. Bharat was heaven but it is now hell. The Father says: Now remember Me and you souls will become satopradhan. When you remember the Father, your intoxication rises. No one in the world is as wealthy as we are. If you don’t remember the Father, how would you receive wealth? You children receive limitless happiness in heaven. They have written so many tall stories in the scriptures. They even sing: The king is Rama and the subjects are those who belong to Rama. There is benefit in righteousness. Then they say that Rama’s Sita was abducted and that Rama led an army of monkeys. Previously, you too used to study all of those things without understanding them. You now understand everything very well. They have written such wonderful things! The Father says: I have to take the support of matter. They have shown Brahma, Vishnu and Shankar in the picture of the Trimurti, but they don’t understand who Vishnu is or where he resides. They say that the Vishnu Temple is the Temple to Narayan, but they don’t understand the meaning of that at all. Lakshmi and Narayan who rule in the golden age are the dual-form of Vishnu. You are now changing from humans into deities. Tell anyone who comes: We are Brahma Kumars and Kumaris and so Prajapita Brahma is the father of all of us. He has so many subjects. You must have heard his name. God created Brahmins through Brahma. The Father would definitely have given the inheritance to you children. He makes you children into the masters of the world. You are receiving the inheritance from Shiv Baba. One is a worldly father and the other is the Father from beyond this world. You have now found this alokik (subtle) father. He was a jeweller. He didn’t know anything before. It is of him that it is said: I enter him at the end of the last of his many births. The system of going into retirement, beyond sound, exists in Bharat. After the age of 60, they retire and go to a guru. The Father enters this one and says: You now have to return home. Everyone wants liberation, but no one knows liberation. No one can merge into the brahm element. The world cycle continues to turn. Everyone has to play his or her own part. It is said that the history and geography of the world repeat. This drama is eternally predestined. You have to play your parts of 84 births. This is the dance of knowledge. Those people then show drums (of Shankar). How could Shankar, a resident of the subtle region, play drums? The Father has explained that you were like monkeys. Therefore, He led the army of you monkeys. Baba is playing the drums of knowledge in front of you; He is giving you knowledge. He is now transforming your features and your character. You have become ugly by sitting on the pyre of lust. Baba now makes you sit on the pyre of knowledge and is transforming your features and character and making you beautiful from ugly. Baba makes you so intoxicated here! So, why does that disappear? Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Imbibe the limitless treasure of knowledge that the Father is giving you and make yourself wealthy. Also donate them to everyone. Fill the aprons of whoever comes to you.
  2. Only by having remembrance of the Father will there be benefit. Therefore, whilst walking and moving around, stay in remembrance of the Father as much as possible. Experience the sweetness of all relationships with just the one Father.
Blessing: May you do tapasya while keeping the knowledge of the whole tree in your awareness as a true tapaswi and server.
On the path of devotion, they show a tapaswi sitting under a tree doing tapasya. There is significance in this too. The residence of you children is in the roots of the kalpa tree of the world. By sitting beneath the tree, you automatically have the knowledge of the whole tree in your intellects. So, keep the knowledge of the whole tree in your awareness and see the tree as a detached observer. By doing this you will have intoxication and happiness and your battery will also be charged. Then, when you do service, you will also do tapasya at the same time.
Slogan: Illness of the body is not a big thing, but never let your mind become ill.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 16 JUNE 2021 : AAJ KI MURLI

16-06-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हारे पास अविनाशी ज्ञान रत्नों का अथाह खजाना है, तुम उसका दान करो, तुम्हारे दर से कोई भी वापिस नहीं जाना चाहिए”
प्रश्नः- सर्व सम्बन्धों की सैक्रीन बाप अपने बच्चों को कौन सी श्रीमत देते हैं?
उत्तर:- मीठे बच्चे – अपना बुद्धियोग सब तरफ से हटाए एक मुझे याद करते रहो। दुनिया की कोई भी वस्तु, मित्र सम्बन्धी आदि याद न आयें क्योंकि इस समय सब दु:ख देने वाले हैं। विश्व का मालिक बनना है तो जरूर 63 जन्मों का हिसाब-किताब चुक्तू करने की मेहनत करनी पड़े। सब कुछ भूल अशरीरी बनो तब हिसाब-किताब चुक्तू हो। मैं सर्व संबंधों की सैक्रीन हूँ।

ओम् शान्ति। बापदादा बच्चों से पूछते हैं कि किसकी याद में बैठे हो? (शिवबाबा की) बुलन्द आवाज में कहना चाहिए – शिवबाबा की याद में बैठे हैं। तुम बच्चे अर्थात् आत्माओं का कनेक्शन है शिवबाबा से। तुम शिवबाबा के बनते हो इन द्वारा, क्योंकि शिवबाबा इनके द्वारा ही मिलते हैं। यह बीच में दलाल भी कहा जाता है। तुम्हारा दलाल से कोई कनेक्शन नहीं है। यह तो सिर्फ बीच में मारफत है। लेन-देन का सबका हिसाब-किताब बाप से होना है, इनसे नहीं। इनका भी लेन-देन बाप से है। यह भी उस बाप को कहते हैं – बाबा मेरा सब कुछ आपका है। तुम्हें भी एक तो निश्चय यह है कि हम आत्मा हैं और दूसरा यह भी निश्चय है कि हम आत्मायें अभी परमपिता परमात्मा से वर्सा ले रहे हैं। मन्सा-वाचा-कर्मणा, तन-मन-धन से हम शिवबाबा के मददगार बनते हैं। यह सब कुछ शिवबाबा को अर्पण किया हुआ है। फिर शिवबाबा डायरेक्शन देते हैं – ऐसे-ऐसे यह करो। इनको कहा जाता है श्रीमत। बाप खुद कहते हैं मैं इस पुराने तन में प्रवेश करता हूँ। यह भी पतित से पावन बन रहे हैं। यह किसने कहा? शिवबाबा ने। यह भी पावन बन रहे हैं। इनका भी मेरे साथ हिसाब-किताब है। इनके साथ कोई का हिसाब-किताब नहीं। तुम चिट्ठी लिखते हो – शिवबाबा केअरआफ ब्रह्मा। परन्तु माया ऐसी है जो निरन्तर याद करने नहीं देती है। बुद्धियोग घड़ी-घड़ी तोड़ देती है। अगर यही पक्का पुरूषार्थ करेंगे तो फिर दूसरा सब कुछ भूल जायेगा। शरीर भी भूल जायेगा। यह शरीर होगा परन्तु आत्मा को इन सब चीज़ों से नफरत होगी। यह अवस्था जमाने की प्रैक्टिस करनी होती है। अन्त में हमको अपना शरीर भी याद न पड़े। बाप कहते हैं – अपने को अशरीरी समझ मुझ बाप को याद करो। मैं सदैव अशरीरी हूँ, तुम भी अशरीरी थे। फिर तुमने पार्ट बजाया। अभी फिर तुमको पार्ट बजाना है, यह मेहनत है। विश्व का मालिक बनना कोई कम बात है क्या। मनुष्य ही विश्व का मालिक बन सकता है। यह देवतायें भी मनुष्य हैं परन्तु इनको दैवीगुण वाले देवता कहा जाता है। लक्ष्मी-नारायण विश्व के मालिक थे, इन्हों को अपने बच्चे होंगे। वही उनको माँ-बाप मानेंगे। परन्तु आजकल मनुष्य अन्धश्रद्धा से इन लक्ष्मी-नारायण को त्वमेव माताश्च पिता…कहते हैं। वास्तव में यह महिमा है शिवबाबा की। देवताओं की महिमा गाते हैं आप सर्वगुण सम्पन्न…परन्तु उन्हों की पूजा क्यों करते हैं, यह किसको पता नहीं है। अभी तुम ऐसी महिमा नहीं गायेंगे कि तुम मात-पिता… हाँ तुम जानते हो शिवबाबा वह निराकार परमपिता परमात्मा है। उनसे ही सुख घनेरे मिलते हैं। बाकी जो भी सम्बन्धी आदि हैं उनसे दु:ख ही मिलता है। यह तो एक सैक्रीन है, जिससे सर्व सम्बन्ध की रसना मिलती है इसलिए बाप कहते हैं मामा, काका, चाचा आदि सबसे बुद्धियोग हटाए मामेकम् याद करो। तुम गाते भी हो दु:ख हर्ता सुख कर्ता… सर्व का सद्गति दाता एक ही है, वही हमारा सब कुछ है। लौकिक बाप से भी दु:ख मिलता है। बाकी टीचर है जो किसको दु:ख नहीं देते। टीचर पास जाकर पढ़ने से तुम शरीर निर्वाह करते हो। हुनर सिखाने वाले भी होते हैं। वह सब अल्पकाल के लिए टीचिंग करते हैं। भक्ति में भी महिमा एक राम अथवा परमपिता परमात्मा की ही करते हैं, उनको ही याद करते हैं। वास्तव में भक्ति भी एक की ही करनी है। वह एक ही तुमको पूज्य बनाते हैं। तुम पहले-पहले एक शिवबाबा की पूजा करते हो। उनको सतोप्रधान भक्ति कहा जाता है। फिर आत्मा भी सतोप्रधान से सतो रजो तमो बनती है। तुम समझते हो हम पुजारी बनते हैं। तुम पहले एक शिव की ही पूजा करते हो फिर कलायें कमती होती जाती हैं। भक्ति भी सतोप्रधान से, सतो रजो तमो बन जाती है। सारा ड्रामा तुम्हारे ऊपर ही बना हुआ है। आपेही पूज्य आपेही पुजारी, जो 84 जन्म पूरे लेते हैं, उनकी ही कहानी है। उनको ही बाप बैठ बताते हैं – तुमने 84 जन्म कैसे लिये हैं। हिसाब ही उनका है। जो पहले-पहले पूज्य देवी-देवता बनते हैं, वही पुजारी बनते हैं। बाप कहते हैं – मैं कल्प-कल्प आकर तुमको पढ़ाता हूँ और देवी-देवता धर्म की स्थापना करता हूँ, राजयोग सिखाता हूँ। गीता में भूल से कृष्ण भगवानुवाच लिख दिया है। भगवान तो एक ही होता है। वह तो कहते ठिक्कर भित्तर, कण-कण में परमात्मा है। परन्तु ऐसे तो हो नहीं सकता। भगवान की तो महिमा अपरमअपार है। कहते हैं – हे बाबा तुम्हारी गति मत न्यारी अर्थात् तुम्हारी जो श्रीमत मिलती है, वह सबसे न्यारी है। बाप को कहते ही हैं गति-सद्गति दाता परमपिता परमात्मा, तो बुद्धि ऊपर में जाती है। दु:ख के टाइम उनकी ही याद आती है। अगर राम-सीता बुद्धि में हो फिर तो सारा रामायण बुद्धि में आ जाए। तुम तो पुकारते ही हो, उस एक बाप को। सिवाए एक बाप के कोई भी साकारी मनुष्य वा आकारी देवता से बुद्धि नहीं लगानी है। पतित-पावन है ही एक बाप। कोई भी सतसंग में जाकर यही गाते हैं – पतित-पावन सीताराम, अर्थ कुछ नहीं। यह सब है – भक्ति मार्ग का गायन। सब रावण की जेल में है। भक्ति मार्ग में बहुत भटकते हैं। यहाँ भटकने की कोई बात नहीं। बाप समझाते हैं, बच्चों को प्वाइंट्स बुद्धि में अच्छी रीति धारण करनी हैं, पढ़ाई रेगुलर करनी है। अगर कोई कारण से सवेरे नहीं आ सकते तो दोपहर को आ जाना चाहिए। किसको तंग भी नहीं करना है। सारा दिन पड़ा है। कोई भी समय जाकर पढ़ना है। यह बच्चियाँ सुबह से लेकर शाम तक सर्विस पर हैं। सारा दिन सर्विस स्टेशन खुले हुए हैं। कोई भी आये, उनको रास्ता बताना है। पहले-पहले तो बताना है – विचार करो तुमको दो बाप हैं। दु:ख में पारलौकिक बाप को याद करते हैं ना। अभी शिवबाबा कहते हैं, मामेकम् याद करो। मौत तो सामने खड़ा है। यह वही महाभारत लड़ाई है। भल बड़े पदमपति, करोड़पति हैं, बड़े-बड़े मकान आदि बनाते हैं। परन्तु वह रहने थोड़ेही हैं, यह सब टूट जाने हैं। वह समझते हैं – कलियुग की आयु लाखों वर्ष है। इनको कहा जाता है घोर अन्धियारा। कोई के पास पैसे हैं, पूछते हैं मकान बनायें। बाबा कहेंगे पैसे हैं तो भल बना लो। पैसे भी तो मिट्टी में मिल जाने हैं। यह तो टैप्रेरी हैं। नहीं तो यह सब पैसे भी चले जायेंगे। कुछ भी रहेगा नहीं, भल बनाओ। फिर उसमें गीता पाठशाला का प्रबन्ध रखो। जो तुम्हारे दर पर कोई भी आये उनको भिक्षा ऐसी दो जो उनको एकदम विश्व का मालिक बना दो। तुम्हारे पास अथाह ज्ञान धन है, इतना कोई के पास नहीं है। तुम्हारे पास सबसे साहूकार वह है, जिनके पास बहुत ज्ञान रत्न बुद्धि में भरे हुए हैं। कोई भी आये तो तुम उनकी झोली भर दो। तुम्हारे पास इतना खजाना है। सिर्फ यह बोर्ड लगा दो – आओ तो हम आपको सदा सुखी स्वर्ग का वर्सा पाने का रास्ता बतायें। परन्तु बच्चों में वह नशा नहीं रहता। यहाँ नशा चढ़ता है, बाहर जाने से भूल जाता है। शौक होना चाहिए। कोई भी आये उनको रास्ता बतायें जो बेड़ा पार हो जाए। तुम्हारे पास बहुत भारी धन है। कोई भी भिखारी आये वा लखपति आये तो तुम उनको भी बहुत रत्न दे सकते हो। बाबा यहाँ नशा चढ़ाता है फिर सोडावाटर हो जाता है। बाबा तुम्हारी अविनाशी ज्ञान रत्नों से झोली भर देते हैं। परन्तु नम्बरवार हैं। किसकी तकदीर में है तो पूरी रीति धारण कर लेते हैं। बाबा कहते हैं – कोशिश कर तुम निरन्तर याद में रहो। ऐसे नहीं कि सेन्टर में जाकर एक जगह बैठना है। नहीं, चलते-फिरते जो भी समय मिले बाप को याद करते रहना है। हथ कार डे, दिल अर्थात् बुद्धि का योग बाप के साथ हो। बाप की याद से तुम्हारा बहुत कल्याण होगा। 21 जन्म के लिए तुम साहूकार बन जाते हो। बेहद का बाप बेहद का वर्सा देते हैं। भारत स्वर्ग था। अब नर्क है।

बाप कहते हैं – अब मुझे याद करो तो तुम्हारी आत्मा सतोप्रधान बन जायेगी। बाप को याद करेंगे तो नशा चढ़ेगा। हमारे जैसा धनवान सृष्टि में कोई नहीं है। बाप ही याद नहीं होगा तो धन कहाँ से आयेगा। स्वर्ग में तो तुम बच्चों को अपार सुख मिलता है। शास्त्रों में तो कितनी दन्त कथायें लिख दी हैं। गाते भी हैं – राम राजा, राम प्रजा…धर्म का उपकार है। फिर कहते राम की सीता चुराई गई, बन्दरों की सेना ली… आगे खुद भी पढ़ते थे, कुछ भी समझते नहीं थे। अब कितना समझ में आता है। कितनी वन्डरफुल बातें लिखी हैं। बाप कहते हैं – मुझे प्रकृति का आधार लेना पड़ता है। त्रिमूर्ति में भी ब्रह्मा, विष्णु, शंकर दिखाते हैं। परन्तु यह भी समझते नहीं कि विष्णु कौन है। कहाँ के रहने वाले हैं। विष्णु के मन्दिर को नर-नारायण का मन्दिर कहते हैं। परन्तु अर्थ कुछ भी नहीं समझते हैं। विष्णु के यह दो रूप लक्ष्मी-नारायण हैं, जो सतयुग में राज्य करते थे। अभी तुम मनुष्य से देवता बन रहे हो। कोई भी आये तो बोलो यह ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ हैं। तो प्रजापिता ब्रह्मा सबका बाप हुआ। बहुत ढेर की ढेर प्रजा है। नाम तो सुना है ना। भगवान ने ब्रहमा द्वारा ब्राह्मण रचे। बाप ने जरूर बच्चों को वर्सा तो दिया होगा ना। तुम बच्चों को विश्व का मालिक बनाते हैं। तुम शिवबाबा से वर्सा पाते हो। एक है लौकिक बाप, दूसरा है पारलौकिक बाप। अब यह तुमको अलौकिक बाप मिला है, यह तो जौहरी था। यह थोड़ेही कुछ जानता था। इनके लिए कहते हैं कि इनके बहुत जन्मों के अन्त के जन्म के भी अन्त में इनमें प्रवेश करता हूँ। वानप्रस्थी बनने का रिवाज भी भारत में है। 60 वर्ष के बाद गुरू के पास चले जाते हैं। बाप इनमें प्रवेश कर कहते हैं अब तुमको घर चलना है। मुक्ति सब चाहते हैं परन्तु मुक्ति को जानते कोई भी नहीं। ब्रह्म में लीन तो कोई हो नहीं सकते। यह तो सृष्टि का चक्र फिरता ही रहता है, सबको पार्ट बजाना ही है। कहते हैं वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट। यह अनादि ड्रामा बना हुआ है। 84 जन्मों का पार्ट तुमको बजाना ही है। यह ज्ञान डांस होती है। वो लोग फिर डमरू दिखाते हैं। अब सूक्ष्मवतन वासी शंकर डमरू कैसे बजायेगा।

बाप ने समझाया है – तुम बन्दर मिसल थे। तो तुम बन्दरों की सेना ली। तुम्हारे आगे बाबा ज्ञान का डमरू बजा रहे हैं। तुमको ज्ञान देते हैं। अभी तुम्हारी सूरत और सीरत दोनों पलटा रहे हैं। काम-चिता पर बैठ तुम काले हो गये हो। बाबा फिर तुमको ज्ञान-चिता पर बिठाए सूरत और सीरत दोनों पलटाए सांवरे से गोरा बना देते हैं। यहाँ बाबा कितना नशा चढ़ाते हैं फिर नशा गुम क्यों होना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप ने जो अथाह ज्ञान का धन दिया है, उसे धारण कर स्वयं भी साहूकार बनना है और सबको दान भी करना है। जो भी आये उसकी झोली भर देनी है।

2) बाप की याद से ही कल्याण होना है, इसलिए जितना हो सके चलते-फिरते बाप की याद में रहना है। सर्व सम्बन्धों की रसना एक बाप से लेनी है।

वरदान:- सारे वृक्ष की नॉलेज को स्मृति में रख तपस्या करने वाले सच्चे तपस्वी व सेवाधारी भव
भक्ति मार्ग में दिखाते हैं कि तपस्वी वृक्ष के नीचे बैठकर तपस्या करते हैं। इसका भी रहस्य है। आप बच्चों का निवास इस सृष्टि रूपी कल्प वृक्ष की जड़ में है। वृक्ष के नीचे बैठने से सारे वृक्ष की नॉलेज बुद्धि में स्वत: रहती है। तो सारे वृक्ष की नॉलेज स्मृति में रख साक्षी होकर इस वृक्ष को देखो। तो यह नशा, खुशी दिलायेगा और इससे बैटरी चार्ज हो जायेगी। फिर सेवा करते भी तपस्या साथ-साथ रहेगी।
स्लोगन:- तन की बीमारी कोई बड़ी बात नहीं लेकिन मन कभी बीमार न हो।

TODAY MURLI 16 JUNE 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 16 June 2020

16/06/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, your first lesson is: I am a soul, not a body. Remain soul conscious and you will be able to remember the Father.
Question: What incognito treasure, that people of the world don’t have, do you children have?
Answer: You have the incognito treasure of happiness, knowing that God, the Father, is teaching you. You know that this present study of yours is for your future land of immortality, not for this land of death. The Father says: Wake up early in the morning and go for a walk , but remember the first lesson and you will continue to accumulate happiness in your accounts.

Om shanti. The Father asks you children: Children, are you sitting here in soul consciousness? Whilst you are sitting here, is each of you considering yourself to be a soul? The Father, the Supreme Soul, is teaching us souls. You children are now aware that you are not bodies, but souls. Effort has to be made to make you children soul conscious. Children are not able to remain soul conscious; they repeatedly become body conscious. This is why Baba asks: Are you sitting here in soul consciousness? If you are soul conscious, you can remember the Father. If you are body conscious, you remember your physical relatives. First of all, remember the words, “I am a soul.” A part of 84 births is recorded in myself, this soul. Make it very firm: I am a soul. You have been body conscious for half the cycle. It is only now, at the confluence age, that you children are made soul conscious. By considering yourself to be a body, you are unable to remember the Father. Therefore, make this lesson firm: I, this soul, am a child of the unlimited Father. You are not being taught to remember the father of your body. The Father says: Now remember Me, your parlokik Father. Become soul conscious! By being body conscious, you remember bodily relations. The effort lies in considering yourself to be a soul and remembering the Father. Who is explaining all of this? The Father of all of us souls, the One whom everyone has been remembering and praying to: “Baba, come! Come and liberate us from this sorrow!” You children know that you are claiming a high status for your future through this study. You are now at the most auspicious confluence age. You no longer want to stay in this land of death. This study of ours is for our future 21 births. We are studying for the golden age, the land of immortality. The immortal Father is giving us this knowledge. Therefore, when you sit here, first of all, consider yourself to be a soul and stay in remembrance of the Father and your sins will be absolved. We are now at the confluence age. Baba is making us into the most elevated human beings of all. He says: Remember Me and you will become elevated human beings. I have come to change humans into deities. In the golden age you were deities. You now know how you came down the ladder. The parts of 84 births are fixed in us souls. No one else in the world knows this. That path of devotion is distinct from this path of knowledge. Only the souls, whom the Father teaches, know all of this; no one else knows it. This incognito treasure is for our future. You are studying for the land of immortality, not for this land of death. The Father says: You may go for a walk in the morning but remember the first lesson: I am a soul, not this body. Our spiritual Baba is teaching us. This world of sorrow now has to change. The golden age is the world of happiness. All of this knowledge is now in your intellects. This is spiritual knowledge. The Father, the Ocean of Knowledge, is the spiritual Father. He is the Father of bodiless ones (souls). All other relations are relations of the body. Now, break off all bodily relationships and connect yourself to the One. People sing: Mine is only One and none other. We only remember the one Father. We don’t even remember these bodies. These old bodies have to be renounced. You also receive knowledge of how to shed your bodies. Each one’s body has to be renounced while you sit in remembrance. This is why Baba says: Become soul conscious! Continue to grind this into yourselves. Continue to remember the Father, the Seed and the tree. The kalpa tree has been mentioned in the scriptures. You children know that the Father, the Ocean of Knowledge, is teaching you. It is not a human being who is teaching you. Make this very firm. You have to study. In the golden age too, it is bodily beings who teach you. Here, this One is not a bodily being. He says: I take the support of an old body and teach you. I teach you in this way every cycle and I will come again and teach you in the same way again in the next cycle. Now remember Me and your sins will be absolved. I am the Purifier. I am called the Almighty Authority. However, Maya is no less either; she too is powerful. Just look from where she has made you fall from. You remember all of this, do you not? The cycle of 84 births has been remembered. That applies to human beings. Many people ask: What happens to animals? However, here, it is not a matter of animals. The Father only speaks to His children. Those from outside don’t even know the Father, so what would they speak to Him about? Some say that they want to meet Baba. However, since they don’t know Him at all, they would simply sit and ask all sorts of wrong questions. Even after having taken the seven days’ course, some don’t understand fully that that One is our unlimited Father. Those who are old devotees, those who have done a lot of devotion, will be able to keep all of these aspects of knowledge in their intellects. Those who have done less devotion will be able to keep very little knowledge in their intellects. You are the oldest devotees of all. It is remembered that God comes to grant the fruit of devotion, but no one knows what that is. The path of devotion is totally separate from the path of knowledge. The whole world is on the path of devotion. Only a handful out of multimillions come and study this knowledge. The explanation is very sweet. Only human beings can understand the cycle of 84 births. Previously, you didn’t know anything. You didn’t even know Shiva. There are so many temples to Shiva. People worship Shiva; they offer Him flowers and salute Him, but they don’t know why they worship Him. Neither do they know why they worship Lakshmi and Narayan nor where they have gone. Only the people of Bharat don’t know who their worthy of worship souls are. Christians know that Christ came in the year such-and-such and established his religion. No one knows Shiv Baba. Only Shiva is called the Purifier. He alone is the Highest on High. People serve (worship) Him the most. He is the Bestower of Salvation for all. Look how He is teaching you! You call out to the Father to come and purify you. People do so much worship in the temples and celebrate with pomp and splendour; they incur so much expense. Go and see this in the temples to Shrinath and Jagadnath. The two are one and the same. A pot of rice is cooked at the temple to Jagadnath. At Shrinath, they have lots of varieties of rich food. Why is there this difference? There has to be a reason. Both the idols of Shrinath and Jagadnath are carved out of black stone. They don’t understand the reason for this at all. Would you say that Jagadnath represents Lakshmi and Narayan or Radhe and Krishna? No one even understands what the relationship is between Radhe and Krishna and Lakshmi and Narayan. You children now know that you were worthy of worship deities and that you have now become worshippers. You have been around the whole cycle. You are now studying in order to become deities once again. It is not a human being who is teaching you this. These are the versions of God. God is also called the Ocean of Knowledge. Here, there are many oceans of devotion who remember the Purifier Father, the Ocean of Knowledge. You have become impure. Therefore, you definitely have to become pure again. This is the impure world. This is not heaven. No one knows where Paradise is. They say, “So-and-so has gone to Paradise”, so why do they feed that soul with the food of hell (through a brahmin priest)? There are many varieties of flowers and fruit etc. in the golden age. What do you have here? This is hell. You know that you are now being inspired by Baba to make effort to become residents of heaven. You have to become pure from impure. The Father has shown you the way to do this. The Father shows you this way every cycle. Remember Me and your sins will be absolved. You know that you are now at the most auspicious confluence age. You say: Baba, we also became this 5000 years ago. You know that you listen to Baba every cycle telling you the story of immortality. Shiv Baba is the Lord of Immortality. However, it wasn’t that He sat and told the story to Parvati. That is devotion. You have now understood what knowledge is and what devotion is. There is the day of Brahmins and the night of Brahmins. The Father explains: You are Brahmins. Adi Dev was also a Brahmin; he cannot be called a deity. People go to see the idol of Adi Dev. So many names have been given to the goddesses. It is because you did so much service that you are remembered. Bharat that was viceless then became vicious. It is now Ravan’s kingdom. It is at this confluence age that you children become the most elevated human beings. You have the imperishable omens of Jupiter over you. You then become the masters of the land of immortality. The Father is teaching you in order to make you into deities from human beings. To become a master of heaven means that you have the omens of Jupiter over you. You will definitely go to heaven, the land of immortality. However, while you are studying, the omens keep fluctuating. You completely forget to have remembrance. The Father has told you: Remember Me! It says in the Gita too: “God speaks: Lust is the greatest enemy.” People study that Gita, but they don’t conquer that vice. When did God say this? Five thousand years ago. Now, once again, God speaks: Lust is the greatest enemy. Conquer it! It causes you sorrow from its beginning through the middle to the end of it. The main vice is lust. It is because of this that everyone is said to be impure. You now know how this cycle turns. According to the drama, we become impure and the Father then comes and purifies us. Baba repeatedly says: First of all, remember what Alpha says: Only by following shrimat will you become elevated. You do understand that, previously, you were elevated and that you have now become degraded. You are now once again making effort to become elevated. Imbibe divine virtues! Don’t make anyone unhappy! Continue to show everyone the path! The Father says: Remember Me, and your sins will be cut away. You call Me alone the Purifier. No one knows how the Purifier comes and purifies everyone. A cycle ago too, the Father said: Constantly remember Me alone! It is in this fire of yoga that your sins can be burnt away. When the alloy is removed, souls become pure. Gold has alloy mixed with it. Therefore, the jewellery made from it is likewise. The Father has now explained to you children how alloy has become mixed in souls. It has to be removed. It is in the Father’s part in the drama to come and make you children soul conscious. You do have to become pure. You know that you were Vaishnavs in the golden age. That was the pure family ashram. We are now becoming the pure masters of the land of Vishnu. You are becoming double Vaishnavs (pure and vegetarian). You are true Vaishnavs. Those people belong to the Vaishnav religion of those who indulge in vices. You belong to the viceless Vaishnav religion. Firstly, you now remember the Father and secondly, you imbibe the knowledge that the Father gives you. You are becoming kings of kings. Those people become kings for a short time, for just one birth. Your kingdom extends over 21 generations, that is, you pass through the full age. There is never untimely death there. You are now conquering death. When it is the time, you understand that you will have to shed your old skin and take a new one. You will have visions of that. Bands will play in happiness. It is a matter of great happiness when you shed your tamopradhan body and take a satopradhan one. There, the average lifespan is 150 years. Here, there continues to be untimely death because they all indulge in vice. The children who have accurate yoga can control all their physical organs with the power of yoga. When you stay in yoga fully, your physical organs become cool. None of your physical organs will deceive you in the golden age. There, you would never say that your physical organs are out of control. You are claiming the highest-on-high status. This is known as the imperishable omens of Jupiter. The Father is the Lord of the Tree, the Seed of the Human World Tree. The Seed is up above and you remember Him up above. The soul remembers his Father. You children know that the unlimited Father is teaching you. He only comes once to tell us the story of immortality. Whether you call it the story of immortality or the story of the true Narayan, people don’t know the meaning of that story. By listening to the story of the true Narayan, you become Narayan from an ordinary human. By listening to the story of immortality you become immortal. Baba explains everything very clearly. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Control all your physical organs with the power of yoga. Stay in remembrance of the one Father, the Lord of the Tree. Become a true Vaishnav; that means, become pure!
  2. Wake up early in the morning and make the first lesson firm: I am a soul, not a body. Our spiritual Baba is teaching us. This world of sorrow now has to change. Continue to use your intellect to churn all of this knowledge in this way.
Blessing: May you be ignorant of the knowledge of any desire for yourself and become a constant donor who uplifts and benefits others, like the Father.
Father Brahma gave his own time for service, he remained humble himself and gave respect to the children. He even renounced the name he earned from doing the work: he became one who uplifts all and benefits others through his name, respect and honour. He renounced his own name and glorified the names of others, he always kept himself a server and made the children his masters. He considered his own happiness to lie in the happiness of the children. To be ignorant of the knowledge of desire, like the Father, means to be an intoxicated beggar, to be a constant donor who uplifts and benefits all. When you are doing this, there will be a fast speed in the task of world benevolence. All cases and stories (situations) will finish.
Slogan: Be an ocean (sindhu) of knowledge, virtues and dharna, and a point (bindu) will be in your awareness.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 16 JUNE 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 June 2020

Murli Pdf for Print : – 

16-06-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हारा पहला-पहला शब्क (पाठ) है – मैं आत्मा हूँ, शरीर नहीं, आत्म-अभिमानी होकर रहो तो बाप की याद रहेगी”
प्रश्नः- तुम बच्चों के पास कौन सा गुप्त खजाना है, जो मनुष्यों के पास नहीं है?
उत्तर:- तुम्हें भगवान बाप पढ़ाते हैं, उस पढ़ाई की खुशी का गुप्त खजाना तुम्हारे पास है। तुम जानते हो हम जो पढ़ रहे हैं, भविष्य अमरलोक के लिए न कि इस मृत्युलोक के लिए। बाप कहते हैं सवेरे-सवेरे उठकर घूमो फिरो, सिर्फ पहला-पहला पाठ याद करो तो खुशी का खजाना जमा होता जायेगा।

ओम् शान्ति। बाप बच्चों से पूछते हैं-बच्चे, आत्म-अभिमानी हो बैठे हो? अपने को आत्मा समझ बैठे हो? हम आत्माओं को परमात्मा बाप पढ़ा रहे हैं, बच्चों को यह स्मृति आई है हम देह नहीं, आत्मा हैं। बच्चों को देही-अभिमानी बनाने लिए ही मेहनत करनी पड़ती है। बच्चे आत्म-अभिमानी रह नहीं सकते। घड़ी-घड़ी देह-अभिमान में आ जाते हैं इसलिए बाबा पूछते हैं-आत्म-अभिमानी हो रहते हो? आत्म-अभिमानी होंगे तो बाप की याद आयेगी, अगर देह-अभिमानी होंगे तो लौकिक सम्बन्धी याद आयेंगे। पहले-पहले यह शब्द याद रखना पड़े, हम आत्मा हैं। मुझ आत्मा में ही 84 जन्मों का पार्ट भरा हुआ है। यह पक्का करना है। हम आत्मा हैं। आधाकल्प तुम देह-अभिमानी हो रहे हो। अभी सिर्फ संगमयुग पर ही बच्चों को आत्म-अभिमानी बनाया जाता है। अपने को देह समझने से बाप याद नहीं आयेगा, इसलिए पहले-पहले यह शब्क (पाठ) पक्का कर लो – हम आत्मा बेहद बाप के बच्चे हैं। देह के बाप को याद करना कभी सिखलाया नहीं जाता है। अब बाप कहते हैं मुझ पारलौकिक बाप को याद करो, आत्म-अभिमानी बनो। देह-अभिमानी बनने से देह के सम्बन्ध याद आयेंगे, अपने को आत्मा समझ और बाप को याद करो, यही मेहनत है। यह कौन समझा रहे हैं, हम आत्माओं का बाप, जिनको सब याद करते हैं बाबा आओ, आकर इस दु:ख से लिबरेट करो। बच्चे जानते हैं इस पढ़ाई से हम भविष्य के लिए ऊंच पद पाते हैं।

अभी तुम पुरूषोत्तम संगमयुग पर हो। इस मृत्युलोक में अब बिल्कुल रहना नहीं है। यह हमारी पढ़ाई है ही भविष्य 21 जन्म लिए। हम सतयुग अमरलोक के लिए पढ़ रहे हैं। अमर बाबा हमको ज्ञान सुना रहे हैं तो यहाँ जब बैठते हो पहले-पहले अपने को आत्मा समझ बाप की याद में रहना है तो विकर्म विनाश होंगे। हम अभी संगमयुग पर हैं। बाबा हमको पुरूषोत्तम बना रहे हैं। कहते हैं मुझे याद करो तो तुम पुरूषोत्तम बन जायेंगे। मैं आया हूँ मनुष्य से देवता बनाने। सतयुग में तुम देवता थे, अभी जानते हो कैसे सीढ़ी उतरे हैं। हमारी आत्मा में 84 जन्मों का पार्ट नूँधा हुआ है। दुनिया में कोई नहीं जानते, वह भक्ति मार्ग अलग है, यह ज्ञान मार्ग अलग है। जिन आत्माओं को बाप पढ़ाते हैं वह जाने, और न जाने कोई। यह है गुप्त खजाना भविष्य के लिए। तुम पढ़ते ही हो अमरलोक के लिए, न कि इस मृत्युलोक के लिए। अब बाप कहते हैं सवेरे उठकर घूमो, फिरो। पहला-पहला शब्क यह याद करो कि हम आत्मा हैं, न कि शरीर। हमारा रूहानी बाबा हमको पढ़ाते हैं। यह दु:ख की दुनिया अब बदलनी है। सतयुग है सुख की दुनिया, बुद्धि में सारा ज्ञान है। यह है रूहानी स्प्रीचुअल नॉलेज। बाप ज्ञान का सागर स्प्रीचुअल फादर है। वह है देही का बाप। बाकी तो सभी देह के ही सम्बन्धी हैं। अब देह के सम्बन्ध तोड़ एक से जोड़ना है। गाते भी हैं मेरा तो एक दूसरा न कोई। हम एक बाप को ही याद करते हैं। देह को भी याद नहीं करते। यह पुरानी देह तो छोड़नी है। यह भी तुमको ज्ञान मिलता है। यह शरीर कैसे छोड़ना है। याद करते-करते शरीर छोड़ देना है इसलिए बाबा कहते हैं देही-अभिमानी बनो। अपने अन्दर घोटते रहो-बाप, बीज और झाड़ को याद करना है। शास्त्रों में यह कल्प वृक्ष का वृतान्त है।

यह भी बच्चे जानते हैं हमको ज्ञान सागर बाप पढ़ाते हैं। कोई मनुष्य नहीं पढ़ाते हैं। यह पक्का कर लेना है। पढ़ना तो है ना। सतयुग में भी देहधारी पढ़ाते हैं, यह देहधारी नहीं है। यह कहते हैं मैं पुरानी देह का आधार ले तुमको पढ़ाता हूँ। कल्प-कल्प मैं तुमको ऐसे पढ़ाता हूँ। फिर कल्प बाद भी ऐसे पढ़ाऊंगा। अब मुझे याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे, मैं ही पतित-पावन हूँ। मुझे ही सर्व शक्तिमान् कहते हैं। परन्तु माया भी कम नहीं है, वह भी शक्तिमान् है, कहाँ से गिराया है। अब याद आता है ना। 84 के चक्र का भी गायन है। यह मनुष्यों की ही बात है। बहुत पूछते हैं, जानवरों का क्या होगा? अरे यहाँ जानवर की बात नहीं। बाप भी बच्चों से बात करते हैं, बाहर वाले तो बाप को जानते ही नहीं, तो वह क्या बात करेंगे। कोई कहेंगे हम बाबा से मिलने चाहते हैं, अब जानते कुछ भी नहीं, बैठकर उल्टे-सुल्टे प्रश्न करेंगे। 7 दिन का कोर्स करने के बाद भी पूरा कुछ समझते नहीं हैं कि यह हमारा बेहद का बाप है। जो पुराने भक्त हैं, जिन्होंने बहुत भक्ति की हुई है उनकी बुद्धि में तो ज्ञान की सब बातें बैठ जाती हैं। भक्ति कम की होगी तो बुद्धि में कम बैठेगा। तुम हो सबसे जास्ती पुराने भक्त। गाया भी जाता है भगवान भक्ति का फल देने लिए आते हैं। परन्तु किसको यह थोड़ेही पता है। ज्ञान मार्ग और भक्ति मार्ग बिल्कुल ही अलग है। सारी दुनिया है भक्ति मार्ग में। कोटों में कोई आकर यह पढ़ते हैं। समझानी तो बहुत मीठी है। 84 जन्मों का चक्र भी मनुष्य ही जानेंगे ना। तुम आगे कुछ नहीं जानते थे, शिव को भी नहीं जानते थे। शिव के मन्दिर कितने ढेर हैं। शिव की पूजा करते, जल डालते, शिवाए नम: करते, क्यों पूजते हैं, कुछ पता नहीं। लक्ष्मी-नारायण की पूजा क्यों करते, वह कहाँ गये, कुछ पता नहीं। भारतवासी ही हैं जो अपने पूज्य को बिल्कुल जानते नहीं। क्रिश्चियन जानते हैं, क्राइस्ट फलाने संवत में आया, आकर स्थापना की। शिवबाबा को कोई भी नहीं जानते। पतित-पावन भी शिव को ही कहते हैं। वही ऊंच ते ऊंच है ना। उनकी सबसे जास्ती सेवा करते हैं। सर्व का सद्गति दाता है। तुमको देखो कैसे पढ़ाते हैं। बाप को बुलाते भी हैं कि आकर पावन बनाओ। मन्दिर में कितनी पूजा करते हैं, कितनी धूमधाम, कितना खर्चा करते हैं। श्रीनाथ के मन्दिर में, जगन्नाथ के मन्दिर में जाकर देखो। है तो एक ही। जगन्नाथ (जगत नाथ) के पास चावल का हाण्डा चढ़ाते हैं। श्रीनाथ पर तो बहुत माल बनाते हैं। फ़र्क क्यों होता है? कारण चाहिए ना। श्रीनाथ को भी काला, जगन्नाथ को भी काला कर देते हैं। कारण तो कुछ भी नहीं समझते। जगतनाथ लक्ष्मी नारायण को ही कहते हैं या राधे-कृष्ण को कहेंगे? राधे-कृष्ण, लक्ष्मी-नारायण का संबंध क्या है, यह भी कोई नहीं जानते हैं। अभी तुम बच्चों को मालूम पड़ा है कि हम पूज्य देवता थे फिर पुजारी बने हैं। चक्र लगाया। अभी फिर देवता बनने के लिए हम पढ़ते हैं। यह कोई मनुष्य नहीं पढ़ाते हैं। भगवानुवाच है। ज्ञान सागर भी भगवान को कहा जाता है। यहाँ तो भक्ति के सागर बहुत हैं जो पतित-पावन ज्ञान सागर बाप को याद करते हैं। तुम पतित बने फिर पावन जरूर बनना है। यह है ही पतित दुनिया। यह स्वर्ग नहीं है। बैकुण्ठ कहाँ है, यह किसको पता नहीं है। कहते हैं बैकुण्ठ गया। तो फिर नर्क का भोजन आदि तुम उनको क्यों खिलाते हो। सतयुग में तो बहुत ही फल-फूल आदि होते हैं। यहाँ क्या है? यह है नर्क। अभी तुम जानते हो बाबा द्वारा हम स्वर्गवासी बनने का पुरूषार्थ कर रहे हैं। पतित से पावन बनना है। बाप ने युक्ति तो बताई है-कल्प-कल्प बाप भी युक्ति बतलाते हैं। मुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। अभी तुम जानते हो हम पुरूषोत्तम संगमयुग पर हैं। तुम ही कहते हो बाबा हम 5 हज़ार वर्ष पहले यह बने थे। तुम ही जानते हो कल्प-कल्प यह अमरकथा बाबा से सुनते हैं। शिवबाबा ही अमरनाथ है। बाकी ऐसे नहीं कि पार्वती को बैठ कथा सुनाते हैं। वह है भक्ति। ज्ञान और भक्ति को तुमने समझा है। ब्राह्मणों का दिन और फिर ब्राह्मणों की रात। बाप समझाते हैं तुम ब्राह्मण हो ना। आदि देव भी ब्राह्मण ही था, देवता नहीं कहेंगे। आदि देव के पास भी जाते हैं, देवियों के भी कितने नाम हैं। तुमने सर्विस की है तब तुम्हारा गायन है, भारत जो वाइसलेस था वह फिर विशश बन जाता है। अभी रावणराज्य है ना।

संगमयुग पर तुम बच्चे अभी पुरूषोत्तम बनते हो, तुम्हारे पर बृहस्पति की दशा अविनाशी बैठती है तब तुम अमरपुरी के मालिक बन जाते हो। बाप तुम्हें पढ़ा रहे हैं, मनुष्य से देवता बनाने के लिए। स्वर्ग के मालिक बनने को बृहस्पति की दशा कहा जाता है। तुम स्वर्ग अमरपुरी में तो जरूर जायेंगे। बाकी पढ़ाई में दशायें नीचे-ऊपर होती रहती हैं। याद ही भूल जाती है। बाप ने कहा है मुझे याद करो। गीता में भी है भगवानुवाच-काम महाशत्रु हैं। पढ़ते भी हैं परन्तु विकार को जीतते थोड़ेही हैं। भगवान ने कब कहा? 5 हज़ार वर्ष हुआ। अब फिर भगवान कहते हैं काम महाशत्रु है, इन पर जीत पानी है। यह आदि-मध्य-अन्त दु:ख देने वाला है। मुख्य है काम की बात, इस पर ही पतित कहा जाता है। अभी पता पड़ा है, यह चक्र फिरता है। हम पतित बनते हैं, फिर बाप आकर पावन बनाते हैं – ड्रामा अनुसार। बाबा बार-बार कहते हैं पहले-पहले अल्फ की बात याद करो, श्रीमत पर चलने से ही तुम श्रेष्ठ बनेंगे। यह भी तुम समझते हो हम पहले श्रेष्ठ थे फिर भ्रष्ट बनें। अब फिर श्रेष्ठ बनने का पुरूषार्थ कर रहे हैं। दैवीगुण धारण करना है। किसको भी दु:ख नहीं देना है। सबको रास्ता बताते जाओ, बाप कहते हैं मुझे याद करो तो पाप कट जायें। पतित-पावन तुम मुझे ही कहते हो ना। यह कोई को पता नहीं कि पतित-पावन कैसे आकर पावन बनाते हैं। कल्प पहले भी बाप ने कहा था मामेकम् याद करो। यह योग अग्नि है, जिससे पाप दग्ध होते हैं। खाद निकलने से आत्मा पवित्र बन जाती है। खाद सोने में ही डालते हैं। फिर जेवर भी ऐसा बनता है। अभी तुम बच्चों को बाप ने समझाया है आत्मा में कैसे खाद पड़ी है, उनको निकालना है। बाप का भी ड्रामा में पार्ट है जो तुम बच्चों को आकर देही-अभिमानी बनाते हैं। पवित्र भी बनना है। तुम जानते हो सतयुग में हम वैष्णव थे। पवित्र गृहस्थ आश्रम था। अभी हम पवित्र बन और विष्णुपुरी के मालिक बनते हैं। तुम डबल वैष्णव बनते हो। सच्चे-सच्चे वैष्णव तुम हो। वह हैं विकारी वैष्णव धर्म के। तुम हो निर्विकारी वैष्णव धर्म के। अभी एक तो बाप को याद करते हो और नॉलेज जो बाप में है, वह तुम धारण करते हो। तुम राजाओं का राजा बनते हो। वह राजायें बनते हैं अल्पकाल, एक जन्म के लिए। तुम्हारी राजाई है 21 पीढ़ी अर्थात् फुल एज पास करते हो। वहाँ कब अकाले मृत्यु नहीं होगा। तुम काल पर जीत पाते हो। समय जब होता है तो समझते हो अब यह पुरानी खल छोड़ नई लेनी है। तुमको साक्षात्कार होगा। खुशी के बाजे बजते रहते हैं। तमोप्रधान शरीर को छोड़ सतोप्रधान शरीर लेना यह तो खुशी की बात है। वहाँ 150 वर्ष आयु एवरेज रहती है। यहाँ तो अकाले मृत्यु होती रहती है क्योंकि भोगी हैं। जिन बच्चों का योग यथार्थ है उनकी सर्व कर्मेन्द्रियां योगबल से वश में होंगी। योग में पूरा रहने से कर्मेन्द्रियां शीतल हो जाती हैं। सतयुग में तुमको कोई भी कर्मेन्द्रियां धोखा नहीं देती हैं, कभी ऐसे नहीं कहेंगे कि कर्मेन्द्रियां वश में नहीं हैं। तुम बहुत ऊंच ते ऊंच पद पाते हो। इनको कहा जाता है बृहस्पति की अविनाशी दशा। वृक्षपति मनुष्य सृष्टि का बीजरूप है बाप। बीज है ऊपर में, उनको याद भी ऊपर में करते हैं। आत्मा बाप को याद करती है। तुम बच्चे जानते हो बेहद का बाप हमको पढ़ाते हैं, वह आते ही एक बार हैं अमरकथा सुनाने। अमरकथा कहो, सत्य नारायण की कथा कहो, उस कथा का भी अर्थ नहीं समझते हैं। सत्य नारायण की कथा से नर से नारायण बनते हैं। अमरकथा से तुम अमर बनते हो। बाबा हर एक बात क्लीयर कर समझाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) योगबल से अपनी सर्व कर्मेन्द्रियों को वश में करना है। एक वृक्षपति बाप की याद में रहना है। सच्चा वैष्णव अर्थात् पवित्र बनना है।

2) सवेरे उठकर पहला पाठ पक्का करना है कि मैं आत्मा हूँ, शरीर नहीं। हमारा रूहानी बाबा हमको पढ़ाते हैं, यह दु:ख की दुनिया अब बदलनी है…… ऐसे बुद्धि में सारा ज्ञान सिमरण होता रहे।

वरदान:- स्वयं के प्रति इच्छा मात्रम् अविद्या बन बाप समान अखण्डदानी, परोपकारी भव
जैसे ब्रह्मा बाप ने स्वयं का समय भी सेवा में दिया, स्वयं निर्मान बन बच्चों को मान दिया, काम के नाम की प्राप्ति का भी त्याग किया। नाम, मान, शान सबमें परोपकारी बनें, अपना त्याग कर दूसरों का नाम किया, स्वयं को सदा सेवाधारी रखा, बच्चों को मालिक बनाया। स्वयं का सुख बच्चों के सुख में समझा। ऐसे बाप समान इच्छा मात्रम् अविद्या अर्थात् मस्त फकीर बन अखण्डदानी परोपकारी बनो तो विश्व कल्याण के कार्य में तीव्रगति आ जायेगी। केस और किस्से समाप्त हो जायेंगे।
स्लोगन:- ज्ञान, गुण और धारणा में सिन्धू बनो, स्मृति में बिन्दू बनो।

TODAY MURLI 16 JUNE 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 16 June 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 15 June 2019 :- Click Here

16/06/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
12/12/84

The duty of special souls.

Today, the Father, the Comforter of Hearts, has come to meet His happy-hearted children. Throughout the whole world, it is only you children who are constantly happy-hearted. All the rest, at some time or other, experience sorrow and pain in their hearts over one thing or another. You children of the Father who removes pain from your hearts, the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness, are embodiments of happiness. From everyone else’s heart emerges the sound of distress of the pain in their hearts, whereas from the hearts of all of you children who are happy-hearted, the sound “Wah, Wah!” emerges. Just as a physical body has many different types of pain, in the same way, human souls today also have many different types of pain in their hearts. Sometimes, there is the pain of the suffering of karma through the body. Sometimes, there is the pain of experiencing sorrow in relationships and connections. Sometimes, when they receive a lot of wealth or when their wealth has decreased, there is the pain of worrying over either situation. Sometimes, there is the pain of the sorrow received through natural calamities. In this way, from one type of pain, many other types of pain are born. The whole world has become one that is calling out in pain and sorrow. At such a time, what is the duty of you children, you bestowers of happiness, embodiments of happiness? To free everyone from the debts of pain and sorrow of birth after birth. Those old debts have become diseases of pain and sorrow. At such a time, it is the duty of all of you to become bestowers and, whatever disease of any debt a soul has, to fill that soul with the attainment that is lacking. A soul with pain and sorrow caused by the suffering of the body as a result of his actions can end that suffering by becoming a karma yogi and doing karma yoga. In the same way, you must give them the great donation of the attainment of power for them to become karma yogis. Give this to them as a blessing because they are in debt, that is, they are powerless and empty. Give a share of the power of your karma yoga to such souls. Credit their accounts with something or other from your account, for only then will they be able to be freed from the disease of debt. For such a long time, you have been the Father’s direct heirs and have accumulated an inheritance of all powers. Therefore, now, donate from your savings account with a generous heart, for only then will you be able to end the suffering of the pain in their hearts. As the final moments come closer, so the power of devotion of all souls is coming to an end. At least the rajoguni souls in the copper age still had the powers of donation, charity and devotion that they had accumulated in their accounts. This is why they had one means of peace or other for the livelihood of their souls. However, tamoguni souls have now become empty of even any means of temporary happiness for the livelihood of the soul. That is, they have become empty after eating the fruit of devotion. Devotion is now just in name. Devotion is not such that it gives you any fruit. The tree of devotion is now fully grown. The tree definitely has the beauty of the variety of colours but, because it is powerless, fruit is not received. Just as, when a physical tree has fully grown and reached the stage of total decay, it cannot be fruitful but just becomes one that gives shade, in the same way, the tree of devotion is definitely giving the shade of keeping their hearts happy. “We’ve adopted gurus and we will receive liberation. We’ve been on pilgrimages, made donations and performed charity, and so we will have some attainment”. All that now remains to make their hearts happy is the shade of this temptation. “If not now, we will receive it at some point.” The poor innocent devotees are resting in this shade, but they don’t have any fruit. This is why everyone’s account for the livelihood of the soul is empty. At such a time, the duty of you overflowing souls is to give such souls a share of courage from your accumulated account and encourage them. Have you accumulated or did you just earn enough for yourself and use it up? If you just earn enough for yourself and use it up, that is not called being a Raja Yogi. That is not called being one with the right to self-sovereignty. A king’s treasure-store remains constantly completely full. The king is responsible for sustaining his people. One with the right to self-sovereignty. means one who is completely full with all treasures. If you are not completely full with treasures, then you are a praja yogi (subject yogi), not a Raja Yogi. A subject just earns and uses it up. Wealthy subjects keep a little from what they have accumulated, but kings are the masters of the treasures. Therefore, a Raja Yogi means a soul who has a right to self-sovereignty, one whose account of accumulation of any treasure cannot become empty. So, check yourself: Are your treasures completely full? Children of the Bestower, do you each feel that you want to give to everyone or are you just lost in your own self? Is your time spent in just sustaining yourself? Or, are you completely full with your time and your treasures for the sustenance of others? Those who take the sanskars of spiritual sustenance from here at the confluence age can become the future world kings who sustain the subjects. The stamp of being a king or a subject is applied here and the status is received there. If the stamp is not applied here, there is no status there. The confluence age is the stamp office. The stamp is received from the Father and the Brahmin family. Therefore, examine yourself very carefully. Check your stock. Let it not be that you lack one thing at that time and are cheated of becoming full. When you accumulate physical stock and, having gathered all the groceries, a tiny box of matches is left out, what would you do with the grain? Although you have innumerable attainments, your lack of attaining one thing can cheat you of something. In the same way if one thing is missing you will be cheated of the right to receive the stamp of completion. Don’t think: I have the power of remembrance and so if a virtue is missing, it doesn’t matter. The power of remembrance is great and it is fine for it is number one. However, instead of your passing fully, if you are missing even one virtue you will fail. Don’t consider this to be a small thing. The importance of the relationship of each virtue is a deep account. Baba will tell you about that some other time.

Today, Baba especially reminded you of what the duty of special souls is. Do you understand? At this time, those from the capital Delhi have come here and so Baba told you about things suitable for those who have a right to the kingdom. You won’t receive a palace in the kingdom just like that! You do have to give sustenance and create subjects. Those from Delhi must be making preparations with great force. You want to stay in the capital of the kingdom. You don’t want to go far away, do you?

Even now those from Gujarat are together. You are together in Madhuban at the confluence age and so you will also be together in the kingdom, will you not? You have had the determined thought to stay together, have you not? The third group is Indore. In-doors means those who stay at home. So those of you from the Indore zone will remain in the home of the kingdom, will you not? Even now, you are those who live in the home of the Father’s heart. So all three of you have something in common in terms of closeness. Constantly continue to make the line of your fortune clear in this way and continue to extend it. Achcha.

To those who always fulfil their duty of being completely full, to those who remove everyone’s pain with their elevated bestower sanskars, to those who always have a right to self-sovereignty and give spiritual sustenance, to those who make the treasure-stores of all treasures completely full, to the master bestowers and bestowers of blessings, to such elevated Raja Yogi souls, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Avyakt BapDada meeting groups:

1) Does each one of you constantly experience yourself to be a soul stable on the seat of a detached observer? The stage of a detached observer is the most elevated and best seat. Doing and seeing everything whilst seated on this seat is a great pleasure. When a seat is good, you enjoy sitting on it. If a seat isn’t good, you don’t enjoy sitting on it. This seat of a detached observer is the most elevated seat. Do you always remain on this seat? In the world, they run around chasing after a seat. You have received such a good seat. No one can move you from this seat. Those people are afraid that, although they have a seat today, they won’t have it tomorrow. You have an imperishable seat and so you can sit on it without any fear. So do you constantly remain on the seat of a detached observer? Those who get upset cannot be set. Constantly stay set on this seat. This is such a comfortable seat that you can see and experience whatever you want by sitting on it.

2) Do you consider yourselves to be special souls who are a handful out of multi-millions in the whole world, and the lucky few out of that handful? The praise that only a handful out of multi-millions belong to the Father applies to you. Do you constantly have this happiness? Many souls of the world are making effort to find the Father whereas you have found Him. To belong to the Father means to attain Him. The world is searching for Him and you now belong to Him. There is a huge difference between the attainment of the path of devotion and that of the path of knowledge. Knowledge is a study. Devotion is not a study; it is spiritual, temporary entertainment, whereas knowledge is the means for permanent attainment. Therefore, always stay in this awareness and make others powerful. The things you never even imagined, you have attained in a practical way. The Father took His children from every corner and made them belong to Him. Therefore, stay in this happiness.

3) Do all of you experience yourselves to be belonging to the one Father and follow the directions of One? Do you remain stable in this stage constantly? When you have just the one Father, when you don’t have anyone else, your stage easily becomes constant. Do you experience this? When you don’t have anyone else, where would your intellect go? There is no margin for it to go anywhere else. There is just the One. Where there are two or four things, there is some margin for you to think about. When there is just the one path, where will you go? So, here, the easy way to show the path is to belong to the one Father, to have one direction, a constant stage and the one family. Therefore, constantly remember the One and you will become number one. All you have to do is know the account of One. No matter where you stay, when you have the remembrance of the One, you are always with Him, not far away. When you have the Father’s company, you cannot have the company of Maya. It is when you move away from the Father that Maya comes. She doesn’t come just like that. Don’t move away and then Maya won’t come! There is importance in just the One.

BapDada meeting half kumars:

Whilst living at home with your families, do you always have an alokik attitude? Does each of you experience yourself to be beyond the life of a householder and always living as a trustee? A trustee means to be constantly happy whereas a householder means to be constantly unhappy. Who are you? Always happy. You have now left the world of sorrow. You have come away from that. You are now in the confluence-aged world of happiness. You are those with alokik households, not lokik households. Let there also be an alokik attitude and alokik vision between yourselves.

The sign of being a trustee is to be constantly detached and loving to the Father. If you are not loving and detached, you are not a trustee. A householder life means to have a life of bondage. A trustee life means to be free from bondage. By becoming a trustee, all your bondages easily end. When you are free from bondage, you are constantly happy. Waves of sorrow cannot come to such souls. If you have the thought, “This is my home, my family, my work”, that awareness then invites Maya. Therefore, change “mine” into “Yours”. When you say “Yours”, sorrow ends. To say “mine” means to become confused. To say “Yours” means to stay in pleasure. If you don’t stay in pleasure now, then when would you stay in pleasure? The confluence age is the age of pleasure. Therefore, always stay in pleasure. Let there be no waste even in your dreams or thoughts. You have been wasting everything for half the cycle. The time for wasting is now over. It is now the time to earn an income. To the extent that you are powerful, you will accordingly be able to accumulate. Accumulate so much that you will be able to eat comfortably from that for 21 births. Have so much stock that you also become able to give to others, because you are children of the Bestower. To the extent that you have accumulated, accordingly you will definitely have that much happiness.

Always stay lost in the love of belonging to the one Father and none other. Where there is love, no obstacles can remain. When it is the day, it isn’t the night and when it is the night, it isn’t the day. So, it is the same with love and obstacles. Love is so powerful that it burns away obstacles. You are souls who have such love that you are free from obstacles. No matter how big an obstacle may be, even if Maya comes as an obstacle, those who have love overcome that obstacle as easily as pulling a hair out of butter. Love enables you to experience all attainments. Where the Father is, there is definitely attainment. The Father’s treasures are the children’s treasures.

BapDada meeting mothers:

You are the Shakti Army, are you not? You mothers have become world mothers. You are no longer limited mothers. Always consider yourselves to be world mothers. You are not those who are trapped in limited households. You are those who stay constantly happy doing unlimited service. The Father has given you such an elevated status. He has changed you from being maids to being the crown on His head. Wah, my elevated fortune! That’s all! Simply continue to sing this song. This is the only work that the Father has given you mothers, because you mothers have become tired from wandering around so much. Seeing the tiredness of the mothers, the Father has come to free you from that tiredness. He finished the tiredness of 63 births in one birth. He finished it in a second. You belonged to the Father and your tiredness ended. Mothers like to swing and make others swing. So the Father has given you mothers the swings of happiness and supersensuous joy. Continue to swing in those swings. You have become constantly happy and fortunate by having the Husband (you are not widows). You have become the immortal children of the immortal Father. BapDada is also pleased to see the children. Achcha.

Blessing: May you become wealthy and constantly experience contentment with the feeling of being full.
The wealth of self-sovereignty is knowledge, virtues and powers. Those who are have a right to self-sovereignty with all of these types of wealth are always content. They have no name or trace of any lack of any attainment. To be ignorant of any limited desires is known as being wealthy. They would always be bestowers, never beggars. They have a right to constant, unbroken, happy and peaceful self-sovereignty. No type of adverse situation can break their unbreakable peace.
Slogan: Those who see the three aspects of time and the three worlds with the eye of knowledge are master knowledge-full.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 16 JUNE 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 June 2019

To Read Murli 15 June 2019 :- Click Here
16-06-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 12-12-84 मधुबन

विशेष आत्माओं का फर्ज

आज दिलाराम बाप अपने दिलखुश बच्चों से मिलने आये हैं। सारे विश्व में सदा दिल खुश आप बच्चे ही हैं। बाकी और सभी कभी न कभी किसी न किसी दिल के दर्द में दु:खी हैं। ऐसे दिल के दर्द को हरण करने वाले दु:ख हर्ता सुख दाता बाप के सुख स्वरूप आप बच्चे हो। और सभी के दिल के दर्द की पुकार हाय-हाय का आवाज निकलता है। और आप दिलखुश बच्चों की दिल से वाह-वाह का आवाज निकलता है। जैसे स्थूल शरीर के दर्द भिन्न-भिन्न प्रकार के हैं। ऐसे आज की मनुष्य आत्माओं के दिल के दर्द भी अनेक प्रकार के हैं। कभी तन के कर्म भोग का दर्द, कभी सम्बन्ध सम्पर्क से दु:खी होने का दर्द, कभी धन ज्यादा आया वा कम हो गया दोनों की चिंता का दर्द, और कभी प्राकृतिक आपदाओं से प्राप्त दु:ख का दर्द। ऐसे एक दर्द से अनेक दर्द पैदा होते रहते हैं। विश्व ही दु:ख दर्द की पुकार करने वाला बन गया है। ऐसे समय पर आप सुखदाई, सुख स्वरूप बच्चों का फर्ज क्या है? जन्म-जन्म के दु:ख दर्द के कर्ज से सभी को छुड़ाओ। यह पुराना कर्ज दु:ख दर्द का मर्ज बन गया है। ऐसे समय पर आप सभी का फर्ज है दाता बन जिस आत्मा को जिस प्रकार के कर्ज का मर्ज लगा हुआ है उनको उस प्राप्ति से भरपूर करो। जैसे तन के कर्मभोग की दु:ख दर्द वाली आत्मा कर्मयोगी बन कर्मयोग से कर्म भोग समाप्त करे, ऐसे कर्मयोगी बनने की शक्ति की प्राप्ति महादान के रूप में दो। वरदान के रूप में दो, स्वयं तो कर्जदार हैं अर्थात् शक्तिहीन हैं, खाली हैं। ऐसे को अपने कर्मयोग की शक्ति का हिस्सा दो। कुछ न कुछ अपने खाते से उनके खाते में जमा करो तब वह कर्ज के मर्ज से मुक्त हो सकते हैं। इतना समय जो डायरेक्ट बाप के वारिस बन सर्व शक्तियों का वर्सा जमा किया है, उस जमा किये हुए खाते से फ्राकदिली से दान करो, तब दिल के दर्द की समाप्ति कर सकेंगे। जैसे अन्तिम समय समीप आ रहा है, वैसे सर्व आत्माओं के भक्ति की शक्ति भी समाप्त हो रही है। द्वापर से रजोगुणी आत्माओं में फिर भी दान पुण्य, भक्ति की शक्ति अपने खातों में जमा थी। इसलिए अपने आत्म निर्वाह के लिए कुछ न कुछ शान्ति के साधन प्राप्त थे लेकिन अब तमोगुणी आत्मायें इस थोड़े समय के सुख के आत्म निर्वाह के साधनों से भी खाली हो गई हैं अर्थात् भक्ति के फल को भी खाकर खाली हो गई हैं। अब नामधारी भक्ति है। फलस्वरूप भक्ति नहीं है। भक्ति का वृक्ष विस्तार को पा चुका है। वृक्ष की रंग-बिरंगी रंगत की रौनक जरूर है। लेकिन शक्तिहीन होने के कारण फल नही मिल सकता। जैसे स्थूल वृक्ष जब पूरा विस्तार को प्राप्त कर लेता, जड़जड़ीभूत अवस्था तक पहुँच जाता है तो फलदायक नहीं बन सकता है। लेकिन छाया देने वाला बन जाता है। ऐसे भक्ति का वृक्ष भी दिल खुश करने की छाया जरूर दे रहा है। गुरू कर लिया, मुक्ति मिल जायेगी। तीर्थयात्रा दान पुण्य किया, प्राप्ति हो जायेगी – यह दिल खुश करने के दिलासे की छाया अभी रह गई है। “अभी नहीं तो कभी मिल जायेगा”, इसी छाया में बिचारे भोले भक्त आराम कर रहे हैं लेकिन फल नहीं है इसलिए सबके आत्म निर्वाह के खाते खाली हैं। तो ऐसे समय पर आप भरपूर आत्माओं का फर्ज है अपने जमा किये हुए हिस्से से ऐसी आत्माओं को हिम्मत हुल्लास दिलाना। जमा है या अपने प्रति ही कमाया और खाया। कमाया और खाया उसको राजयोगी नहीं कहेंगे। स्वराज्य अधिकारी नहीं कहेंगे। राजा के भण्डारे सदा भरपूर रहते हैं। प्रजा के पालना की जिम्मेवारी राजा पर होती है। स्वराज्य अधिकारी अर्थात् सर्व खजाने भरपूर। अगर खजाने भरपूर नहीं तो अब भी प्रजा योगी हैं। राजयोगी नहीं। प्रजा कमाती और खाती है। साहूकार प्रजा थोड़ा बहुत जमा रखती है, लेकिन राजा खजानों का मालिक है। तो राजयोगी अर्थात् स्वराज्य अधिकारी आत्मायें। किसी भी खजाने में जमा का खाता खाली नहीं हो सकता। तो अपने को देखो कि खजाने भरपूर हैं। दाता के बच्चे सर्व को देने की भावना है वा अपने में ही मस्त हैं। स्व की पालना में ही समय बीत जाता वा औरों की पालना के लिए समय और खजाना भरपूर है। यहाँ संगम से ही रूहानी पालना के संस्कार वाले भविष्य में प्रजा के पालनहार विश्व राजन् बन सकते हैं। राजा वा प्रजा का स्टैम्प यहाँ से ही लगता है। स्टेटस वहाँ मिलता है। अगर यहाँ की स्टैम्प नहीं तो स्टेटस नहीं। संगमयुग स्टैम्प आफिस है। बाप द्वारा ब्राह्मण परिवार द्वारा स्टैम्प लगती है। तो अपने आपको अच्छी तरह से देखो। स्टॉक चेक करो। ऐसे न हो समय पर एक अप्राप्ति भी सम्पन्न बनने में धोखा दे देवे। जैसे स्थूल स्टाक जमा करते, अगर सब राशन जमा कर लिया लेकिन छोटा सा माचिस रह गया तो अनाज क्या करेंगे। अनेक प्राप्तियाँ होते भी एक अप्राप्ति धोखा दे सकती है। ऐसे एक भी अप्राप्ति सम्पन्नता का स्टैम्प लगाने के अधिकारी बनने में धोखा दे देगी।

यह नहीं सोचो – याद की शक्ति तो है, किसी गुण की कमी है तो कोई हर्जा नहीं। याद की शक्ति महान है, नम्बरवन है यह ठीक है। लेकिन किसी भी एक गुण की कमी भी समय पर फुल पास होने में फेल कर देगी। यह छोटी बात नहीं समझो। एक एक गुण का महत्व और सम्बन्ध क्या है, यह भी गहरा हिसाब है, वह फिर कभी सुनायेंगे।

आप विशेष आत्माओं की फर्ज-अदाई क्या है? आज यह विशेष स्मृति दिलाई। समझा। इस समय देहली राजधानी वाले आये हैं ना। तो राज्य अधिकारी की बातें सुनाई। ऐसे ही राजधानी में महल नहीं मिल जायेगा। पालना कर प्रजा बनानी होगी। देहली वाले तो जोर-शोर से तैयारी कर रहे होंगे ना। राजधानी में रहना है ना, दूर तो नहीं जाना है ना।

गुजरात वाले तो अभी भी साथ हैं। संगम पर मधुबन के साथ हैं तो राज्य में भी साथ होंगे ना। साथ रहने का दृढ़ संकल्प किया है ना। तीसरा है इन्दौर। इनडोर अर्थात् घर में रहने वाले। तो इन्दौर जोन वाले राज्य के घर में रहेंगे ना। अभी भी बाप के दिल रूपी घर में रहने वाले। तो तीनों की समीपता की राशि मिलती है। सदा ऐसे ही इस भाग्य की रेखा को स्पष्ट और विस्तार को प्राप्त करते रहना। अच्छा –

ऐसे सदा सम्पन्न-पन की फर्ज-अदाई पालन करने वाले, अपने दाता-पन के श्रेष्ठ संस्कारों से सर्व के दर्द मिटाने वाले, सदा स्वराज्य अधिकारी बन रूहानी पालना करने वाले, सर्व खजानों से भरपूर भण्डारे करने वाले, मास्टर दाता वरदाता, ऐसे राजयोगी श्रेष्ठ आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

पार्टियों से अव्यक्त बापदादा की मुलाकात 

1. सदा अपने को साक्षीपन की सीट पर स्थित आत्मायें अनुभव करते हो? यह साक्षीपन की स्थिति सबसे बढ़िया श्रेष्ठ सीट है। इस सीट पर बैठ कर्म करने या देखने में बहुत मजा आता है। जैसे सीट अच्छी होती है तो बैठने में मजा आता है ना। सीट अच्छी नहीं तो बैठने में मजा नहीं। यह साक्षीपन की सीट सबसे श्रेष्ठ सीट है। इसी सीट पर सदा रहते हो? दुनिया में भी आजकल सीट के पीछे भाग-दौड़ कर रहे हैं। आपको कितनी बढ़िया सीट मिली हुई है। जिस सीट से कोई उतार नहीं सकता। उन्हें कितना डर रहता है, आज सीट है कल नहीं। आपकी अविनाशी है निर्भय होकर बैठ सकते हो। तो साक्षी-पन की सीट पर सदा रहते हो? अपसेट वाला सेट नहीं हो सकता। सदा इस सीट पर सेट रहो। यह ऐसी आराम की सीट है जिस पर बैठकर जो देखने चाहो जो अनुभव करने चाहो वह कर सकते हो।

2. अपने को इस सृष्टि के अन्दर कोटों में कोई और कोई में भी कोई… ऐसी विशेष आत्मा समझते हो? जो गायन है कोटों में कोई बाप के बनते हैं, वह हम हैं। यह खुशी सदा रहती है? विश्व की अनेक आत्मायें बाप को पाने का प्रयत्न कर रहीं हैं और हमने पा लिया! बाप का बनना अर्थात् बाप को पाना। दुनिया ढूंढ रही है और हम उनके बन गये। भक्तिमार्ग और ज्ञान मार्ग की प्राप्ति में बहुत अन्तर है। ज्ञान है पढ़ाई, भक्ति पढ़ाई नहीं है। वह थोड़े समय के लिए आध्यात्मिक मनोरंजन है। लेकिन सदाकाल की प्राप्ति का साधन ज्ञान है। तो सदा इसी स्मृति में रह औरों को भी समर्थ बनाओ। जो ख्याल ख्वाब में न था – वह प्रैक्टिकल में पा लिया। बाप ने हर कोने से बच्चों को निकाल अपना बना लिया। तो इसी खुशी में रहो।

3. सभी अपने को एक ही बाप के, एक ही मत पर चलने वाले एकरस स्थिति में स्थित रहने वाले अनुभव करते हो? जब एक बाप है, दूसरा है ही नहीं तो सहज ही एकरस स्थिति हो जाती है। ऐसे अनुभव है? जब दूसरा कोई है ही नहीं तो बुद्धि कहाँ जायेगी और कहाँ जाने की मार्जिन ही नहीं है। है ही एक। जहाँ दो चार बातें होती हैं तो सोचने को मार्जिन हो जाती। जब एक ही रास्ता है तो कहाँ जायेंगे। तो यहाँ मार्ग बताने के लिए ही सहज विधि है – एक बाप, एक मत, एकरस एक ही परिवार। तो एक ही बात याद रखो तो वन नम्बर हो जायेंगे। एक का हिसाब जानना है, बस। कहाँ भी रहो लेकिन एक की याद है तो सदा के साथ हैं, दूर नहीं। जहाँ बाप का साथ है वहाँ माया का साथ हो नहीं सकता। बाप से किनारा करके फिर माया आती है। ऐसे नहीं आती। न किनारा हो न माया आये। एक का ही महत्व है।

अधर कुमारों से बापदादा की मुलाकात

सदा प्रवृति में रहते अलौकिक वृत्ति में रहते हो? गृहस्थी जीवन से परे रहने वाले, सदा ट्रस्टी रूप में रहने वाले। ऐसे अनुभव करते हो? ट्रस्टी माना सदा सुखी और गृहस्थी माना सदा दु:खी, आप कौन हो? सदा सुखी। अभी दु:ख की दुनिया छोड़ दी। उससे निकल गये। अभी संगमयुगी सुखों की दुनिया में हो। अलौकिक प्रवृत्ति वाले हो, लौकिक प्रवृति वाले नहीं। आपस में भी अलौकिक वृत्ति, अलौकिक दृष्टि रहे।

ट्रस्टी-पन की निशानी है सदा न्यारा और बाप का प्यारा। अगर न्यारा प्यारा नहीं तो ट्रस्टी नहीं। गृहस्थी जीवन अर्थात् बन्धन वाली जीवन। ट्रस्टी जीवन निर्बन्धन है। ट्रस्टी बनने से सब बन्धन सहज ही समाप्त हो जाते हैं। बन्धनमुक्त हैं तो सदा सुखी हैं। उनके पास दु:ख की लहर भी नहीं आ सकती। अगर संकल्प में भी आता है – मेरा घर, मेरा परिवार, मेरा यह काम है तो यह स्मृति भी माया का आह्वान करती है। तो मेरे को तेरा बना दो। जहाँ तेरा है वहाँ दु:ख खत्म। मेरा कहना और मूंझना, तेरा कहना और मौज में रहना। अभी मौज में नहीं रहेंगे तो कब रहेंगे। संगमयुग ही मौजों का युग है इसलिए सदा मौज में रहो। स्वप्न और संकल्प में भी व्यर्थ न हो। आधाकल्प सब व्यर्थ गंवाया, अब गंवाने का समय पूरा हुआ। कमाई का समय है। जितने समर्थ होंगे उतना कमाई कर जमा कर सकेंगे। इतना जमा करो जो 21 जन्म आराम से खाते रहो। इतना स्टाक हो जो दूसरों को भी दे सको क्योंकि दाता के बच्चे हो। जितना जमा होगा उतनी खुशी जरूर होगी।

सदा एक बाप दूसरा न कोई इसी लगन में मगन रहो। जहाँ लगन है वहाँ विघ्न नहीं रह सकता। दिन है तो रात नहीं, रात है तो दिन नहीं। ऐसे यह लगन और विघ्न हैं। लगन ऐसी शक्तिशाली है जो विघ्न को भस्म कर देती है। ऐसी लगन वाली निर्विघ्न आत्मायें हों? कितना भी बड़ा विघ्न हो, माया विघ्न रूप बनकर आये लेकिन लगन वाले उसे ऐसे पार करते हैं जैसे माखन से बाल। लगन ही सर्व प्राप्तियों का अनुभव कराती है। जहाँ बाप है वहाँ प्राप्ति जरूर है, जो बाप का खजाना वह बच्चे का।

माताओं के साथ:- शक्ति दल है ना। मातायें, जगत मातायें बन गई। अभी हद की मातायें नहीं। सदा अपने को जगत माता समझो। हद की गृहस्थी में फँसने वाली नहीं। बेहद की सेवा में सदा खुश रहने वाली। कितना श्रेष्ठ मर्तबा बाप ने दिला दिया। दासी से सिर का ताज बना दिया। वाह मेरा श्रेष्ठ भाग्य! बस यही गीत गाती रहो। बस यही एक काम बाप ने माताओं को दिया है क्योंकि मातायें बहुत भटक-भटक कर थक गई है। तो बाप माताओं की थकावट देख, उन्हें थकावट से छुड़ाने आये हैं। 63 जन्म की थकावट एक जन्म में समाप्त कर दी। एक सेकण्ड में समाप्त कर दी। बाप के बने और थकावट खत्म। माताओं को झूलना और झुलाना अच्छा लगता है। तो बाप ने माताओं को खुशी का, अतीन्द्रिय सुख का झुला दिया है। उसी झूले में झूलती रहो। सदा सुखी, सदा सुहागिन बन गई। अमर बाप के अमर बच्चे बन गये। बापदादा भी बच्चों को देखकर खुश होते हैं। अच्छा।

वरदान:- सम्पन्नता द्वारा सदा सन्तुष्टता का अनुभव करने वाले सम्पत्तिवान भव 
स्वराज्य की सम्पत्ति है ज्ञान, गुण और शक्तियां। जो इन सर्व सम्पत्तियों से सम्पन्न स्वराज्य अधिकारी हैं वह सदा सन्तुष्ट हैं। उनके पास अप्राप्ति का नाम निशान नहीं। हद के इच्छाओं की अविद्या – इसको कहा जाता है सम्पत्तिवान। वह सदा दाता होंगे, मंगता नहीं। वे अखण्ड सुख-शान्तिमय स्वराज्य के अधिकारी होते हैं। किसी भी प्रकार की परिस्थिति उनके अखण्ड शान्ति को खण्डित नहीं कर सकती।
स्लोगन:- ज्ञान नेत्र से तीनों कालों और तीनों लोकों को जानने वाले मास्टर नॉलेजफुल हैं।

TODAY MURLI 16 JUNE 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 16 June 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 15 June 2018 :- Click Here

16/06/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, just as the Father gives happiness to everyone, in the same way, you children also have to become flowers and give happiness to everyone. Don’t prick anyone like thorns do. Always remain cheerful.
Question: When the Father meets you children, what does He ask you and with which sweet words does He ask you?
Answer: Sweetest, beloved, long-lost and now-found children, are you happy and content? These words of love only sound good when they emerge from Shiv Baba’s mouth. Shiv Baba asks you with love, “Children, are you happy and content?” because He knows that you are now on a battlefield. Maya becomes strong and comes to make you children move backwards. This is why Baba asks: Children, have you become conquerors of Maya? Do you always remember the powerful Master? Do you have that happiness?
Song: Mother, O mother, you are the Bestower of Fortune for all. 

Om shanti. God Shiva speaks. Shiva is not the name of a body. No one can call this one (Brahma) God. Brahma says: God Shiva speaks. The Father of Brahma is Shiva. The Father, the Creator, would definitely be the Resident of the incorporeal world, the Highest-on-High. Brahma, Vishnu and Shankar cannot be called the Highest on High. The Highest on High is the Father, the Creator. You children know that you have come here to claim your inheritance from the highest-on-high Father and that Father is the Creator of heaven. The Father is now sitting personally in front of you. So, the Mother and Father are needed. It is sung: You are the Mother and Father. Shiv Baba Himself says: I now enter this body and create the mouth-born creation. A creation cannot be created without a mother. So this Brahma is the mother. However, this mother cannot give sustenance. He has the form of a father, but the form of a mother is needed. This one (Brahma) is the grandmother. These very deep and entertaining things have to be understood. You children know that you are the mouth-born creation of Brahma. This is called an adoption. Those who are born through a womb cannot be called adopted. When someone says in words “You are mine”, that is a mouth-born creation. Similarly, you would say to a sannyasi, “You are my guru” and he would say, “You are my disciple.” Therefore, they are mouth-born followers. That is a creation of a mouth. They are not called a creation born through a womb. Baba now asks you: Who is the Father of Shankaracharya? Is it the one through whom he was born? Would that one be called the Father? No, the Father of Shankaracharya is the Supreme Father, the Supreme Soul. The new soul of Shankaracharya comes and enters another being in order to establish a religion. Just as the Supreme Father, the Supreme Soul, has entered this one, in the same way, the new soul of Shankaracharya entered another and created that mouth-born creation. Then that mouth-born creation continued and a religion was established through him, just as the Brahmin religion is established through Brahma. The Father explains everything to you. Shiv Baba does not say that souls are His mouth-born creation. Souls always exist. Shiv Baba comes and creates the creation through this Prajapita Brahma. Shiv Baba says through this mouth: You are Mine. Children say: Baba, You are mine. Only through Brahma can you become the children. Shiv Baba says: Children, just remember that you are going to receive your inheritance from Me, not from Brahma. You are not going to receive anything at all from him. The inheritance of the kingdom of heaven can only be received from Me. I am the Creator of heaven. I am called Heavenly Godthe Father. Prajapita Brahma cannot be called Heavenly God, the Father. He is called a master creator. So, that One is the Father. So what does the Father create? The creation of heaven. Through whom? The one main child is Brahma. Then there are His grandsons and granddaughters. One is the spiritual Father and the other is the physical father. How can the incorporeal spiritual Father come? He definitely needs a body. It isn’t that Shiv Baba will come floating on a leaf in the ocean, sucking His thumb. He needs a body. Brahmins, the mouth-born creation of Brahma, are remembered. Therefore, the Father of Brahma is also needed. The Father of Brahma is Shiva. This is why Shiv Baba says: You mustn’t remember Brahma or his daughter Saraswati. You are reminded of Shiv Baba through them. Saraswati, the mouth-born creation of Brahma became number one. A huge mela takes place for Jagadamba because she is pure and celibate from birth. Her name is glorified so much because of purity. The name ‘Jagadamba’ cannot be given to this Brahma. Jagadamba is definitely needed. So, how does the Father create creation? The Father Himself explains to you children. There are many children. They say: He (Krishna) abducted Rukmani and Satyabhama etc., that is, he made them belong to Him. They have mentioned many such names. There are some such true stories, which are like a pinch of salt in a sackful of flour. The great Mahabharat War is also remembered in the scriptures. That will be called the Third World War. These rehearsals will continue to take place. There is the First World War, the Second World War and then there is also the Third World War. You children know that this war will take place very forcefully. How else would death come? There is the destruction of the Yadava and Kaurava clans, but the Pandava clan remains. You belong to the Pandava clan and you are sitting here. The knowledge of the Gita is in your intellects. The Father sits here and explains to you the essence of all the scriptures. He grants you visions. It is because He has knowledge Himself that He is able to grant visions. I tell you the essence of all the Vedas and scriptures etc. that you have studied. Mine is the Bhagwad Gita, the most elevated jewel of all the scriptures. They sit and make a book of the Raja Yoga that I teach you. I came on to the battlefield and gave you children knowledge. I taught you Raja Yoga. This is the war against Maya. They have then shown a physical battlefield. They show biographies of the main important ones. It is also shown who the main ones among you are. Here, truly, the main one is Saraswati. There is also Brahma who established the sacrificial fire, and then those who established the branches are also loved, numberwise. It is said: Many have changed from thorns into buds and from buds into flowers through so-and-so. Those who imbibe well are called flowers. Those who cause one another sorrow are called thorns. It is the work of thorns to cause sorrow. Those thorns are non-living whereas these thorns are human thorns. Baba says: I make you into flowers. Flowers give a lot of happiness to one another. There, even animals give happiness to one another and this is why it is said: The lion and the lamb drink water together, that is, there is no sorrow there at all. You children now have to imbibe that stage. In the golden age you receive the reward. According to the drama, you continue to imbibe, numberwise, according to the effort you make, and you then also inspire others to imbibe. Nothing happens without making effort. The Father says: Simply remember Me. This Brahma cannot say that. This one says: You are to receive the inheritance from the Father. You do not receive it from your mother. Although he explains knowledge, you are to claim your inheritance from the One to whom you have to go. His soul (Brahma’s) also has to come to Me. He has to remember Me. Everything depends on remembrance. When you find Alpha, you find everything. Alpha means Allah, God. God means the Father. A child takes birth to a father. When children find the Father, it means they receive everything. They receive all of the Father’s property. They receive all the property in a second. As soon as you take birth, you become a master of the Father’s property in a second. This Father says: I make you the masters; I don’t become that. I am always karmateet. We have to go beyond karmic bondage and then be connected through the new relationships of karma and this is why we have to make effort. It is the Father who inspires you to make effort. These are wonderful matters. The Father sits here and explains: All the gurus etc. are human beings. I do not become a human being. I do not even have a body. Brahma, Vishnu and Shankar have subtle bodies. They are called deities. I am not called a deity. The Highest on High is called God. It is remembered: You are the Mother and the Father. Therefore, this one is the mother. The Father adopts you. He serves you mothers and this is why He is called Jagad Amba, the World Mother. Shiv Baba creates Brahmins through the mouth of Brahma. This one is a mouth-born creation. He makes this one His chariot and creates the creation. The mouth-born creation of Brahma are Brahmins. However, you cannot receive the inheritance from Brahma. What does Brahma have? Nothing at all! He renounced everything. Brahma is a beggar. He gave away everything including his body. Renounce all bodily religions. I am a soul, a child of the unlimited Father. This one’s soul says this. Baba also says: This one is my most special child. However, people are created through the mother. Therefore, Brahmins are created through the mouth of Brahma. All of you Brahmins are making effort. You Brahmins also have to become just as sweet. You have to give everyone happiness. The Father is so sweet! You have to become as sweet as He is. The Father says with a lot of love: Sweetest, beloved children. Look how Shiv Baba asks you with so much love: Children, are you happy and content? This Baba too asks you: You are never attacked by Maya, are you? Many storms of Maya will come. You mustn’t be defeated in boxing. The powerful Master is sitting here. Maya is no less. However, it isn’t that she will defeat everyone. You now understand who the strong ones are. Brahmaputra (Brahma) truly is the strongest one who conquers Maya. He is a male, and then there are you Ganges, numberwise. There are also many males. There is Jagdish, Sanjay; he has very good tact in explaining to others. This is a military. There are the Commander-in-Chief, the Major, the General etc. However, this spiritual Army is incognito. There is the comparison. They have wrongly compared the Kauravas to the Pandavas. The Father says: Now judge for yourselves! Follow My pure directions, ‘shrimat’. You have been following impure directions for birth after birth. These are pure directions. It is written in the scriptures that the sparrows swallowed the ocean. How can sparrows swallow an ocean? You daughters are the sparrows; you continue to chirp knowledge. You completely swallow the ocean of knowledge. You claim your inheritance from Him and take everything from Him. You don’t keep the kingdom etc. for the Father. You completely swallow everything. You take all the treasures from Him. You take all the jewels. Those sparrows were not physical birds. It was you sparrows who swallowed the ocean. They have mixed up the things of here with birds. He gives you jewels. There is a vast difference between the jewels of knowledge and the ocean of water that they have portrayed. This is the Ocean of Knowledge and the jewels of knowledge. You have heard the story of Rup and Basant. You know that Baba is Rup and that He gives you jewels through this one. No one can place any value on these. This is knowledge through which you earn a huge income. The Father gives you jewels through this mouth. The Father is Rup and also the form of light. He is the Ocean of Knowledge and so He would definitely speak knowledge to you. You too are the form of light. However, there is only one Ocean of Knowledge. He comes and teaches you Raja Yoga. First of all, He gives knowledge to Brahma and then to you children. He makes you children rup and basant. He only comes once to fill the aprons of you souls. You fill your aprons with the jewels of knowledge. Sages and holy men etc. say: Fill our aprons! What is there in those aprons of the path of devotion? Nothing at all! They continue to ask for something. This apron is of the intellect. You purify it with remembrance. The vessel has to be very pure. Knowledge is imbibed well in celibacy. Those are young children, whereas here, there are all – old and young. The vessel becomes pure through yoga and the lock on the intellect opens. You know which one of you children is the main one on the battlefield. It is Brahma. Mama, Saraswati, is in the second grade. This one’s name is very elevated. Her name has to be glorified. This Brahma is incognito. The name Mama is mentioned in the Shakti Army. Jagadamba is Saraswati, the daughter of Brahma. Who is this one’s Mama then? He tells you these deep things now. He would definitely have told you them in the previous cycle too, and this is why He says: I continue to tell you deep things. Many children will come. They will continue to grow in number till the end. There will definitely also be obstacles. However, the tree will definitely bear fruit. Some are kings of flowers. For instance, there is the form of Baba at the top of the rosary (tassel). You, too, are the same: rup. However, you are not basant. Baba, Rup Basant, has now come and also makes you the same as Himself. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do the service of changing thorns into flowers. Become rup and basant, the same as the Father.
  2. Follow the pure directions (shrimat) of the powerful Master and become a conqueror of Maya and a conqueror of the world. Never be defeated.
Blessing: May you be master knowledge-full and by knowing each one’s nature and sanskars remain safe instead of clashing with any one.
To make any situation big or small depends on your own intellect. Since you know one another’s nature and sanskars, then being knowledge -full ,you cannot clash with anyone’s nature or sanskars. When people are aware that there is a pit or a mountain somewhere, then, because of knowing that, they would not fall into it or crash into it, but would move aside. Similarly, when you move away, you make yourself safe. Do not move away from any work, but with the power of your own safety, also make others safe . This is what it means to step aside.
Slogan: In order to experience the flying stage, always remain aware of your fortune and the Bestower of Fortune.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 16 JUNE 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 June 2018

To Read Murli 15 June 2018 :- Click Here
16-06-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – जैसे बाप सबको सुख देते हैं, ऐसे तुम बच्चे भी फूल बन सबको सुख दो, किसी को काँटा नहीं लगाओ, सदा हर्षित रहो”
प्रश्नः- बाप जब बच्चों से मिलते हैं तो कौन-सी बात और किन मीठे शब्दों में पूछते हैं?
उत्तर:- मीठे-मीठे लाडले सिकीलधे बच्चे – खुश मौज में हो? यह प्यार के बोल शिवबाबा के मुख से ही अच्छे लगते हैं। प्यार से शिवबाबा पूछते हैं – बच्चे, राजी खुशी हो? क्योंकि बाप जानते हैं बच्चे अभी युद्ध के मैदान में खड़े हैं। माया पहलवान बन बच्चों को पीछे हटाने आती है, इसलिए बाबा पूछते हैं कि – बच्चे, मायाजीत बने हो, सदा समर्थ उस्ताद याद रहता है? खुशी रहती है?
गीत:- माता ओ माता…. 

ओम् शान्ति। शिव भगवानुवाच। अब शिव कोई शरीर का नाम नहीं है। इन ब्रह्मा को कोई भगवान कह न सके। ब्रह्मा कहते हैं शिव भगवानुवाच। ब्रह्मा का बाप शिव है। रचयिता बाप जरूर मूलवतनवासी ऊंच ते ऊंच होगा। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को ऊंच ते ऊंच नहीं कहा जाता। ऊंच ते ऊंच एक क्रियेटर बाप ठहरा। बच्चे जानते हैं ऊंच ते ऊंच बाप से हम वर्सा लेने आये हैं। वह बाप स्वर्ग का रचयिता है। अब बाप सम्मुख बैठे हुए हैं। तो मात-पिता भी चाहिए। त्वमेव माताश्च पिता… गाया जाता है। अभी शिवबाबा स्वयं कहते हैं मैं इस तन में आकर मुख वंशावली रचता हूँ। वंशावली माता बिगर तो रच नहीं सकते। तो यह ब्रह्मा माता है। परन्तु यह माता पालना नहीं कर सकती है। यह तो पिता का रूप हो गया। माता का रूप चाहिए। यह दादा (ब्रह्मा) है। यह बड़ी गुह्य, रमणीक बातें समझने की हैं। यह तो बच्चे जानते हैं हम ब्रह्मा की मुख वंशावली हैं। इनको एडाप्शन कहा जाता है। कुख वंशावली को एडाप्शन नहीं कहेंगे। मुख से कहते हैं तुम मेरी हो। इनको मुख वंशावली कहा जाता है। जैसे सन्यासी होगा तो कहेंगे आप हमारे गुरू हो। वह कहते हैं तुम हमारे शिष्य हो। तो वह हो गये मुख के फालोअर्स। मुख की उत्पत्ति। कुख वंशावली नहीं कहेंगे। अब बाबा पूछते हैं कि शंकराचार्य का बाप कौन? क्या जिससे वह पैदा हुआ, उनको बाप कहेंगे? नहीं। शंकराचार्य का बाप परमपिता परमात्मा है। शंकराचार्य की नई सोल आकर प्रवेश करती है, धर्म स्थापन करने। जैसे परमपिता परमात्मा ने इनमें प्रवेश किया है, वैसे शंकराचार्य की नई सोल ने प्रवेश कर मुख वंशावली बनाई। फिर वह मुख वंशावली चलती है। उन द्वारा धर्म स्थापन होता है। जैसे ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण धर्म स्थापन होता है। बाप हर बात समझाते हैं। शिवबाबा ऐसे नहीं कहेंगे कि आत्मायें मेरी मुख वंशावली हैं। आत्मायें तो हैं ही हैं। शिवबाबा आते हैं, आकर इस प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा रचना रचते हैं। शिवबाबा इस मुख द्वारा कहते हैं – तुम मेरे हो। बच्चे फिर कहते हैं – बाबा, आप हमारे हो। ब्रह्मा द्वारा ही तुम बच्चे बन सकते हो। शिवबाबा कहते हैं – बच्चे, ख्याल रखना, वर्सा तुमको हमसे लेना है, ब्रह्मा से नहीं मिलना है। बिल्कुल नहीं मिलना है। स्वर्ग की राजधानी का वर्सा हमसे ही मिल सकता है। रचयिता स्वर्ग का मैं हूँ, मुझे हेविनली गॉड फादर कहा जाता है। प्रजापिता ब्रह्मा को हेविनली गॉड फादर नहीं कहेंगे। फिर इनको मास्टर क्रियेटर कहेंगे। वह हो गया बाप। क्या क्रियेट करते हैं? स्वर्ग की रचना। किस द्वारा? मुख्य एक बच्चा ब्रह्मा है। फिर हैं उनके पोत्रे पोत्रियाँ। एक है रूहानी बाप, दूसरा है जिस्मानी बाप। अब निराकारी रूहानी बाप आये कैसे? जरूर उनको शरीर चाहिए। ऐसे तो नहीं शिवबाबा सागर में पत्ते पर अंगूठा चूसकर आयेगा। शरीर तो चाहिए ना। गाया हुआ है ब्रह्मा के मुख वंशावली ब्राह्मण। तो ब्रह्मा का बाप चाहिए। ब्रह्मा का बाप है शिव। इसलिए शिवबाबा कहते हैं – तुमको ब्रह्मा अथवा ब्रह्मा की बेटी सरस्वती को याद नहीं करना है। इन्हों द्वारा तुमको शिवबाबा की याद मिलती है। ब्रह्मा मुख वंशावली में सरस्वती नम्बरवन चली गई। जगत अम्बा का बड़ा भारी मेला लगता है क्योंकि बाल ब्रह्मचारी पवित्र है। पवित्रता से कितना नाम बाला हो जाता है। जगत अम्बा का नाम इस (ब्रह्मा) को दे नहीं सकते। जगत अम्बा जरूर चाहिए। तो बाप कैसे रचना रचते हैं। बाप ही बच्चों को समझाते हैं। बच्चे बहुत हैं ना। कहते हैं रुकमणी, सत्यभामा आदि को भगाया अर्थात् अपना बनाया। ऐसे-ऐसे नाम बहुत डाल दिये हैं। थोड़ा बहुत आटे में नमक कोई ऐसी-ऐसी बातें हैं।

महाभारी महाभारत युद्ध भी शास्त्रों में गाई हुई है। फिर उनको कहते थर्ड वर्ल्ड वार। यह रिहर्सल होती रहेगी। फर्स्ट वर्ल्ड वार, सेकेण्ड वर्ल्ड वार, थर्ड वर्ल्ड वार भी है। अब बच्चे जानते हैं यह लड़ाई तो बहुत ज़ोर से लगेगी। नहीं तो मौत कैसे आयेगा। यादव कुल का विनाश, कौरव कुल का विनाश। बाकी पाण्डव कुल रह जाता है। तुम पाण्डव कुल वाले बैठे हो। तुम्हारी बुद्धि में गीता का ज्ञान है। बाप बैठ सब शास्त्रों का सार समझाते हैं। साक्षात्कार कराते हैं। खुद जानते हैं तब तो साक्षात्कार कराते हैं ना। जो भी शास्त्र-वेद आदि तुमने पढ़े है, मैं तुमको सबका सार सुनाता हूँ। मेरी है सर्व शास्त्रमई शिरोमणी भगवत गीता। जो मैं राजयोग सिखलाता हूँ उनका बैठकर किताब बनाते हैं। हमने तुम बच्चों को आकर युद्ध के मैदान में नॉलेज दी है। राजयोग सिखलाया है। युद्ध है माया की। उन्होंने फिर स्थूल युद्ध का मैदान दिखाया है। मुख्य जो बड़े होते हैं उनकी बायोग्राफी बताते हैं। तुम्हारे में भी मुख्य कौन-कौन हैं, वह भी बताते हैं। यहाँ बरोबर मुख्य है सरस्वती। ब्रह्मा भी है जिन्होंने यज्ञ की स्थापना की और फिर जिन्होंने शाखाओं की स्थापना की है उन्हों में भी नम्बरवार प्रिय लगते हैं। कहेंगे फलाने द्वारा बहुत ही काँटे से कली और कली से फूल बने हैं। जो अच्छी रीति धारण करते हैं उनको फूल कहा जाता है। काँटे उसको कहते हैं जो एक दो को दु:ख देते हैं। दु:ख देना काँटे का काम है। वह काँटे जड़ हैं। यह फिर हैं ह्यूमन काँटे। बाबा कहते हैं मैं तुमको फूल बनाता हूँ। फूल एक-दो को अथाह सुख देते हैं। वहाँ तो जानवर भी एक-दो को सुख देते इसलिए कहा जाता है शेर-बकरी इकट्ठे जल पीते हैं अर्थात् वहाँ दु:ख बिल्कुल नहीं होता। वह अवस्था अभी बच्चों को धारण करनी है। सतयुग में तो तुमको प्रालब्ध मिलती है। ड्रामा अनुसार नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार धारणा करते रहते हैं और फिर धारणा कराते हैं। पुरुषार्थ बिगर कुछ होता नहीं। बाप कहते हैं सिर्फ मुझे याद करो। यह ब्रह्मा तो ऐसे कह न सके। यह कहते हैं तुमको वर्सा बाप से मिलना है। माँ से मिलता नहीं। भल ज्ञान समझाते हैं परन्तु वर्सा उनसे मिलना है जिसके पास जाना है। उनकी आत्मा को भी मेरे पास आना है। मेरे को याद करना है। याद पर ही सारा मदार है। अल्फ मिला तो सब कुछ मिला। अल्फ अर्थात् अल्लाह, ईश्वर। ईश्वर अर्थात् बाप। बच्चा बाप के पास जन्म लेता है। बच्चों को बाप मिला गोया सब कुछ मिला। बाप की सारी प्रापर्टी मिली। सेकेण्ड में सारी प्रापर्टी मिल जाती है। जन्म लिया और सेकेण्ड में बाप की मिलकियत का मालिक बना। यह बाप कहते हैं मैं तुमको मालिक बनाता हूँ, मैं नहीं बनता हूँ। वह तो है सदैव कर्मातीत। हमको कर्मबन्धन से अतीत होकर फिर नये कर्म सम्बन्ध में जुटना है, इसलिए पुरुषार्थ करना है। पुरुषार्थ कराने वाला है बाप। यह वण्डरफुल बातें हैं। बाप बैठ समझाते हैं और सब गुरू लोग मनुष्य हैं। मनुष्य मैं नहीं बनता हूँ। मेरा तो शरीर ही नहीं है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को सूक्ष्म चोला है। उनको देवता कहते हैं, मुझे तो देवता नहीं कहते। ऊंच ते ऊंच भगवान ही कहेंगे। गाया जाता है त्वमेव माताश्च पिता त्वमेव… तो वही माता ठहरी। बाप एडाप्ट करते हैं। माताओं की सेवा करते हैं इसलिए इनका नाम जगत अम्बा पड़ा है। शिवबाबा ब्राह्मण-ब्राह्मणियाँ रचते हैं ब्रह्मा मुख द्वारा। यह है मुख वंशावली। इनको अपना रथ बनाकर रचना रचते हैं। ब्रह्मा के मुख वंशावली ब्राह्मण-ब्राह्मणियाँ ठहरे। परन्तु ब्रह्मा से तो वर्सा मिल न सके। ब्रह्मा के पास क्या है, कुछ भी नहीं। सब कुछ सन्यास कर दिया। ब्रह्मा तो बेगर है। देह सहित सब कुछ दे दिया। सर्व धर्मानि परित्यज… हम तो आत्मा हैं। बेहद बाप का बच्चा हूँ। यह इनकी आत्मा कहती है। बाबा भी कहते हैं – मेरा यह मुरब्बी बच्चा है। परन्तु प्रजा तो माता द्वारा रचते हैं। तो ब्रह्मा के मुख द्वारा ब्राह्मण-ब्राह्मणियाँ रचते हैं। तुम सब ब्राह्मण-ब्राह्मणियाँ पुरुषार्थ कर रहे हो। तुम ब्राह्मणों को भी इतना ही मीठा बनना है। सबको सुख देना है। बाप कितना मीठा है, ऐसा मीठा बनना है।

बाप बहुत प्यार से बोलते हैं – मीठे-मीठे लाडले बच्चे, शिवबाबा कैसे प्यार से बोलते हैं। बच्चे, राजी खुशी हो? यह बाबा भी पूछते हैं। कभी माया का वार तो नहीं होता है ना! तूफान तो माया के बहुत आयेंगे। बॉक्सिंग में हारना नहीं है। उस्ताद समर्थ बैठा है। माया भी कोई कम नहीं है। परन्तु ऐसे थोड़ेही है कि सबको हरायेगी। अभी तुम तो समझते हो – पहलवान कौन है? माया पर जीत पाने वाले, बरोबर ब्रह्मपुत्रा (ब्रह्मा) सबसे पहलवान है। है तो मेल। फिर नम्बरवार तुम गंगायें हो। फिर मेल्स भी बहुत हैं। जगदीश संजय है, उनको समझाने की टैक्ट बहुत अच्छी है। यह मिलेट्री है। कमाण्डर-इन-चीफ, मेजर, जनरल आदि सब हैं। परन्तु यह है गुप्त रूहानी सेना। भेंट तो है ना। उन्होंने कौरव-पाण्डवों की भेंट उल्टी कर दी है। अब बाप कहते हैं जज करो। मेरी सुमत “श्रीमत” पर चलो। जन्म-जन्मान्तर कुमत पर चलते हो। यह है सुमत। शास्त्रों में लिखा है चिड़ियाओं ने सागर को हप किया। अब चिड़ियायें थोड़े-ही सागर को हप कर सकती हैं। चिड़ियायें तुम बच्चियाँ हो। ज्ञान की भूँ-भूँ करती रहती हो। तुम ज्ञान सागर को पूरा ही हप कर लेती हो। उनसे वर्सा लेकर तुम सब कुछ ले लेती हो। बाप के लिए राजाई आदि कुछ नहीं रखती हो। पूरा हप कर लेती हो। पूरा खजाना ले लेती हो। सब रत्न तुम ले लेती हो। बाकी चिड़ियायें कोई पंछी थोड़ेही हो। तुम चिड़ियाओं ने सागर को हप किया है। कहाँ की बात कहाँ पंछियों से जाकर लगाई है। तुमको रत्न दे देते हैं। कहाँ ज्ञान रत्नों की बात, कहाँ पानी का सागर बैठ दिखाया है। है यह ज्ञान सागर, ज्ञान रत्न। रूप-बसन्त की भी कहानी सुनी है। तुम जानते हो रूप बाबा है, इस द्वारा आकर रत्न देते हैं। इनकी कोई वैल्यू नहीं रख सकते। यह नॉलेज है, जिससे बड़ी भारी कमाई होती है। बाप इस मुख द्वारा तुमको रत्न देते हैं। बाप रूप भी है, ज्योति स्वरूप भी है। ज्ञान का सागर है। जरूर ज्ञान ही सुनायेंगे। ज्योति स्वरूप तुम भी हो। परन्तु ज्ञान का सागर एक है। वह आकर राजयोग सिखलाते हैं। पहले ब्रह्मा को फिर तुम बच्चों को बैठ ज्ञान देते हैं। बच्चों को रूप-बसन्त बनाते हैं। तुम्हारी आत्मा की झोली एक ही बार आकर भरते हैं। ज्ञान-रत्नों की झोली तुम भरते हो। साधू आदि कहते हैं भर दो झोली। इस भक्ति मार्ग की झोली में क्या रखा है? कुछ भी नहीं। मांगते ही रहते हैं। यह है बुद्धि रूपी झोली। याद से पवित्र बनाते हैं। बर्तन बड़ा शुद्ध चाहिए। नॉलेज भी ब्रह्मचर्य में अच्छी धारण होती है। वह तो होते हैं छोटे बच्चे। यहाँ तो बूढ़े जवान सब हैं। योग से बर्तन शुद्ध होता है। बुद्धि का ताला खुलता है। तुम जानते हो हम बच्चों में युद्ध के मैदान में मुख्य कौन है? ब्रह्मा। सेकेण्ड ग्रेड में मम्मा सरस्वती। इनका नाम तो बहुत ऊंच है। नाम बाला करना है। यह ब्रह्मा तो गुप्त है। शक्ति सेना में नाम है मम्मा का। जगत अम्बा ब्रह्मा की बेटी सरस्वती। इनकी मम्मा फिर कौन? यह गुह्य बातें अब सुनाते हैं। जरूर कल्प पहले भी सुनाई हुई हैं तब तो कहते हैं – गुह्य बातें सुनाता रहता हूँ। बच्चे तो ढेर आयेंगे। पिछाड़ी तक वृद्धि को पाते रहेंगे। विघ्न भी जरूर पड़ेंगे। परन्तु झाड़ अवश्य फलीभूत होना है। कोई किंग ऑफ फ्लावर है। जैसे माला के ऊपर बाबा का रूप है, तुम भी ऐसे रूप वाले हो। सिर्फ तुम बसन्त नहीं हो। अब बाबा रूप-बसन्त आया है तुमको भी अपने समान बनाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) काँटे से फूल बनाने की सेवा करनी है, बाप समान रूप-बसन्त बनना है।

2) समर्थ उस्ताद की सुमत (श्रीमत) पर चल मायाजीत जगतजीत बनना है। कभी भी हार नहीं खानी है।

वरदान:- हर एक के स्वभाव-संस्कार को जान, टकराने के बजाए सेफ रहने वाले मा. नॉलेजफुल भव
कोई भी बात को छोटा या बड़ा करना – यह अपनी बुद्धि पर है। जबकि एक दो के स्वभाव-संस्कार को जान गये हो तो नॉलेजफुल कभी किसी के स्वभाव-संस्कार से टक्कर नहीं खा सकते। जैसे किसको पता है कि यहाँ खड्डा है वा पहाड़ है तो जानने वाला कभी टकरायेगा नहीं, किनारा कर लेगा। ऐसे आप भी किनारा करो अर्थात् अपने को सेफ रखो। किसी काम से किनारा नहीं करो लेकिन अपनी सेफ्टी की शक्ति से दूसरे को भी सेफ करना – यही किनारा करना है।
स्लोगन:- उड़ती कला का अनुभव करना है तो सदा भाग्य और भाग्य विधाता की स्मृति में रहो।
Font Resize