16 july ki murli

TODAY MURLI 16 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 16 July 2020

16/07/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this confluence age is the age for you to be absolved of your sins. You definitely have to become pure in this age and not commit any sins.
Question: Which children can experience supersensuous joy?
Answer: Those who are full of the imperishable jewels of knowledge can experience supersensuous joy. The more knowledge you imbibe in your life, the wealthier you become. If you don’t imbibe any jewels of knowledge, you remain poor. The Father is giving you the knowledge of the past, present and future and making you trikaldarshi.
Song: Salutations to Shiva.

Om shanti. The past has now become the present and this present will then become the past. People remember the past. You are now at the most auspicious confluence age. The word “auspicious” (purshottam) must definitely be used. You can see the present. The memorial of the past is now happening in a practical way. No doubts should arise about this. You children know that it is now the confluence age and also the end of the iron age. Five thousand years ago, the confluence age was definitely the past, and it has now become the present. The Father has now come. Therefore, the future is that which was the past. The Father is now teaching you Raj Yoga for you to attain your kingdom in the golden age. It is now the confluence age. No one but you children knows these things. You are studying Raj Yoga practically. It is extremely easy. All of you children, young and old, must definitely explain one main thing: Remember the Father and you will be absolved of your sins. Since it is the time for being absolved your sins, who would commit further sin? However, Maya makes you perform sinful acts and you then understand that you were slapped and were made to make a severe mistake. You have been calling out to the Father: O Purifier, come! Now that the Father has come to purify you, you should become pure, should you not? After belonging to God, you shouldn’t become impure. In the golden age, everyone was pure. Bharat itself was pure. It is remembered: The vicious world and the viceless world. They are completely viceless and we are vicious because we indulge in vice. The word “vice” means vicious. It is impure people who call out for Him to come and purify them. Angry people don’t call out. The Father also comes according to the dramaplan. This can’t be changed in the slightest way. Whatever happened in the past is happening at present. To know the past, present and future is known as being trikaldarshi. This has to be remembered. These matters require you to make great effort. You repeatedly forget. Otherwise, you children would experience so much supersensuous joy! You are becoming extremely wealthy with the imperishable jewels of knowledge. The more you imbibe, the wealthier you become. However, that is for the new world. You know that whatever you are doing now is for the future new world. The Father has come to establish the new world and to destroy the old world. This will happen exactly as it happened a cycle ago. You children will see this. There will also be natural calamitiesEarthquakes will take place and everything will be destroyed. There will be so many earthquakes in Bharat. We say that all of this will definitely happen. It also happened in the previous cycle. This is why it is said that the golden city of Dwaraka sank beneath the sea. You children should make it sit in your intellects very clearly that you also took this knowledge 5000 years ago. There isn’t the slightest difference in this. Baba, we claimed our inheritance from You 5000 years ago. We have claimed our inheritance from You so many times that it cannot be counted. You become the masters of the world so many times and you then also become beggars. At this time, the whole population of Bharat is beggars. You write, “According to the dramaplan”. Those people don’t use the word “drama“; they have their own plan. You say that, according to the dramaplan, we are once again carrying out establishment exactly as we did 5000 years ago. We are now following shrimat and doing task exactly what we did in the previous cycle. We are receiving power by following shrimat. There is the name “Shiv Shaktis”. You Shiv Shaktis are those goddesses who are worshipped in the temples. You are the goddesses who attain the kingdom of the world again. Look how much Jagadamba is worshipped! She has been given many names, but she is only one, just as the Father is only the one Shiva. You help to make the world into heaven and so you are also worshipped. There are so many goddesses! Lakshmi is worshipped so much. On Deepmala (Diwali, the festival of lights) they worship Mahalakshmi (Four armed Lakshmi). She is the head; the emperor and empress together are called Mahalakshmi; both are included in this. We too used to worship Mahalakshmi. If our wealth increased we believed it was because of the blessings given by Mahalakshmi. They simply worship her every year. Achcha, people ask her for wealth. What do they ask of the goddesses? You goddesses of the confluence age give the blessing for heaven. People don’t know that all their desires for heaven can be fulfilled by the goddesses. You are goddesses, are you not? You donate knowledge to human beings through which all their desires are fulfilled. When they have an illness etc., they ask the goddesses to cure and protect them. There are many types of goddess. You are the Shiv Shakti goddesses of the confluence age. You bless them with heaven. The Father gives this and you children also give this. They visibly show Mahalakshmi whereas they make Narayan incognito. The Father is increasing the influence of you children. The goddesses fulfil all desires for happiness for 21 births. People ask Mahalakshmi for wealth. They do good business etc. for wealth. The Father comes and makes you into the masters of the whole world and gives you plenty of wealth. Shri Lakshmi and Narayan were the masters of the world. Now they are poverty-stricken. You children know how they ruled the kingdom and then how their stage gradually descended. Look what your state has now become from taking rebirth and your degrees having decreased! This is nothing new. The cycle continues to turn every 5000 years. Bharat is so impoverished now! It is Ravan’s kingdom. Bharat used to be so elevated, it was number one. It is now the last number. If it didn’t become the last number, how could it become number one? There has to be a proper account. When you patiently churn the ocean of knowledge, everything will automatically enter your intellects. These are such sweet matters! You now know the whole world cycle. Education is not just carried out at schoolteacher also gives you lessons to study at home. That is called homework. The Father too gives you homework. Throughout the day, you can carry on with your business etc. because you have to earn a livelihood for your bodies. Everyone has time at amrit vela. Two or three o’clock in the morning is a very good time. Wake up at that time and remember the Father with a lot of love. It is vices that cause you sorrow from the time they begin, through the middle, to the end of them. People burn an effigy of Ravan, but they don’t understand the meaning of that. They say that the custom of burning an effigy of Ravan has continued from the beginning of time. That too is fixed according to the drama. They have been continually killing Ravan and yet Ravan doesn’t die! You children now understand when the burning of Ravan’s effigy will end. You are now listening to the story of the true Narayan. You know that you are now receiving your inheritance from the Father. Because no one knows the Father, everyone is an orphan. They don’t know the Father who makes Bharat into heaven. This too is fixed in the drama. It is only when they have come down the ladder and become tamopradhan that the Father comes. However, they don’t consider themselves to be tamopradhan. The Father says: The whole tree has now reached a state of total decay! Not a single soul is satopradhan. Satopradhan souls exist in the land of peace and the land of happiness. They are now tamopradhan. Only the Father can come and awaken you from the sleep of ignorance. You continue to awaken yourselves and then awaken others. When someone dies, people ignite a lamp so that there can be light for that soul. There is now total darkness everywhere. Therefore, souls cannot return home. Although, from their heart, they want to be liberated from their sorrows, not a single soul can be liberated. The children who remain aware that this is now the most auspicious confluence age cannot stop donating jewels of knowledge. Just as people give donations and perform great charity in the auspicious month of charity, so you too have to donate jewels of knowledge in this most auspicious confluence age. You also understand that the Supreme Father, the Supreme Soul, Himself, is teaching you. There is no question of Krishna doing this. Krishna is the first prince of the golden age. Then he continues to take rebirth. Baba has explained to you the secrets of the past, present and future. You are becoming trikaldarshi. No one but the Father can make you trikaldarshi. Only the Father has the knowledge of the beginning, middle and end of the world. Only He is called the Ocean of Knowledge. Only God is remembered as the Highest on High. He is the Creator. The words “Heavenly God, the Father,” are very clear. He is the One who establishes heaven. The birthday of Shiva is celebrated, but no one knows when He came or what He did when He came. They don’t even understand what His birthday means. Therefore, what would they celebrate? All of that is fixed in the drama. It is only at this time, not at any other time, that you children know the beginning, the middle and the end of the drama. You will come to know it again when the Father comes again. You have now become aware of how the cycle of 84 births turns. What is there on the path of devotion? You don’t receive anything from following that. So many devotees go to crowded places and stumble around. Baba has liberated you from that. You understand that you are now following shrimat and making Bharat elevated once again. Only by following shrimat can you become elevated. Shrimat is only received at the confluence age. You know accurately who you were and how you are once again becoming that. You are now once again making effort to attain that. Children, if, while making effort, you fail, you must give that news to the Father so that He can caution you and make you alert again. Don’t just sit down and consider yourself to be a failure. Get up once again. Take some medicine! The Surgeon is sitting here. Baba explains how much difference there is in falling from the fifth floor and falling from the second floor. The vice of lust is the fifth floor. This is why Baba says that lust is the greatest enemy. It has made you impure. Now become pure! The Purifier Father has come to purify you. He would definitely make you pure at the confluence age. This is the confluence of the end of the iron age and the beginning of the golden age. You children know that the Father is now planting the sapling. The whole tree will then grow here. The tree of you Brahmins will grow and you will then experience happiness in the sun and moon dynasties. It is explained to you so easily! Achcha, if you don’t receive a murli, then remember the Father! Make it firm in your intellects that Shiv Baba tells you through the body of Brahma: Remember Me and you will go into the Vishnu clan. Everything depends on your efforts. Whatever effort you have made every cycle, that is exactly the effort you will make now. For half the cycle you have been body conscious. Now make full effort to become soul conscious. This requires effort. The study is easy; the main thing is to become pure. To forget the Father is a big mistake. It is by becoming body conscious that you forget Him. Carry on with your business etc. for eight hours for the livelihood of your bodies, but make effort to stay in remembrance for the other eight hours. That stage will not be created very quickly. At the end, when you all reach that stage, destruction will take place. Once you reach your karmateet stage, your bodies will not remain. You will shed them because you souls will have become pure by then. When you reach your karmateet stage, numberwise, the war will begin. Until then, rehearsals will continue to take place. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Donate the imperishable jewels of knowledge in this most auspicious month of charity. Wake up at amrit vela and churn the ocean of knowledge. As well as earning an income for the livelihood of your body according to shrimat, you must also definitely do the homework that the Father gives you.
  2. Whenever you have any obstruction to your efforts, give that news to the Father and take shrimat from Him. Tell the Surgeon everything. This is the time for you to be absolved of your sins. Therefore, don’t commit any more sin.
Blessing: May you become karmateet, like the Father and be free from your body, relations and material comforts.
If those who maintain their soul-conscious form while looking after their household as instruments, according to the directions, and not out of attachment, were to receive an order to depart now, they would do so. When the bugle is blown, your time will not go by in thinking. You would be said to be a conqueror of attachment. Therefore, check yourselves whether any bondages of your body, relations and material comforts are pulling you towards themselves. Where there is some bondage, there will be an attraction, but those who are freewill be close to the karmateet stage, like the Father.
Slogan: Along with love and co-operation, also become a form of power and you will receive a number ahead in the kingdom.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 16 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

16-07-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – यह संगमयुग विकर्म विनाश करने का युग है, इस युग में कोई भी विकर्म तुम्हें नहीं करना है, पावन जरूर बनना है”
प्रश्नः- अतीन्द्रिय सुख का अनुभव किन बच्चों को हो सकता है?
उत्तर:- जो अविनाशी ज्ञान रत्नों से भरपूर हैं, उन्हें ही अतीन्द्रिय सुख का अनुभव हो सकता है। जो जितना ज्ञान को जीवन में धारण करते हैं उतना साहूकार बनते हैं। अगर ज्ञान रत्न धारण नहीं तो गरीब हैं। बाप तुम्हें पास्ट, प्रेजन्ट, फ्युचर का ज्ञान देकर त्रिकालदर्शी बना रहे हैं।
गीत:- ओम् नमो शिवाए……..

ओम् शान्ति। पास्ट सो प्रेजन्ट चल रहा है फिर यह जो प्रेजन्ट है, वह पास्ट हो जायेगा। यह गायन करते हैं पास्ट का। अभी तुम पुरूषोत्तम संगमयुग पर हो। पुरूषोत्तम अक्षर जरूर डालना चाहिए। तुम प्रेजन्ट देख रहे हो, जो पास्ट का गायन है वह अब प्रैक्टिकल हो रहा है, इसमें कोई संशय नहीं लाना चाहिए। बच्चे जानते हैं संगमयुग भी है, कलियुग का अन्त भी है। बरोबर संगमयुग 5 हज़ार वर्ष पहले पास्ट हो गया है, अब फिर प्रेजन्ट है। अब बाप आये हैं, फ्युचर भी वही होगा जो पास्ट हो गया। बाप राजयोग सिखला रहे हैं फिर सतयुग में राज्य पायेंगे। अभी है संगमयुग। यह बात तुम बच्चों के सिवाए कोई भी नहीं जानते। तुम प्रैक्टिकल में राजयोग सीख रहे हो। यह है अति सहज। जो भी छोटे अथवा बड़े बच्चे हैं, सबको एक मुख्य बात जरूर समझानी है कि बाप को याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। जबकि विकर्म विनाश होने का समय है तो ऐसा कौन होगा जो फिर विकर्म करेगा। परन्तु माया विकर्म करा देती है, समझते हैं चमाट लग गई। हमसे यह कड़ी भूल हो गई। जबकि बाप को बुलाते हैं कि हे पतित-पावन आओ। अब बाप आया है पावन बनाने तो पावन बनना चाहिए ना। ईश्वर का बनकर फिर पतित नहीं बनना चाहिए। सतयुग में सब पवित्र थे। यह भारत ही पावन था। गाते भी हैं – वाइसलेस वर्ल्ड और विशश वर्ल्ड। वह सम्पूर्ण निर्विकारी, हम विकारी हैं क्योंकि हम विकार में जाते हैं। विकार नाम ही विशश का है। पतित ही बुलाते हैं आकर पावन बनाओ। क्रोधी नहीं बुलाते। बाप भी फिर ड्रामा प्लैन अनुसार आते हैं। ज़रा भी फर्क नहीं पड़ सकता। जो पास्ट हुआ है सो प्रेजन्ट हो रहा है। पास्ट, प्रेजन्ट, फ्युचर को जानना उनको ही त्रिकालदर्शी कहा जाता है। यह याद रखना पड़े। यह बड़ी मेहनत की बातें हैं। घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। नहीं तो तुम बच्चों को कितना अतीन्द्रिय सुख रहना चाहिए। तुम यहाँ अविनाशी ज्ञान धन से बहुत-बहुत साहूकार बन रहे हो। जितनी जिसकी धारणा है, वह बहुत साहूकार बन रहे हैं, परन्तु नई दुनिया के लिए। तुम जानते हो हम जो कुछ करते हैं सो फार फ्युचर नई दुनिया के लिए। बाप आये ही हैं नई दुनिया की स्थापना करने। पुरानी दुनिया का विनाश करने। हूबहू कल्प पहले मिसल ही होगा। तुम बच्चे भी देखेंगे। नैचुरल कैलेमिटीज भी होनी है। अर्थक्वेक हुई और खत्म। भारत में कितनी अर्थक्वेक होगी। हम तो कहते हैं – यह तो होना ही है। कल्प पहले भी हुआ है तब तो कहते हैं सोनी द्वारिका नीचे चली गई है। बच्चों को यह अच्छी रीति बुद्धि में बिठाना चाहिए कि हमने 5 हज़ार वर्ष पहले भी यह नॉलेज ली थी। इसमें ज़रा भी फर्क नहीं। बाबा 5 हज़ार वर्ष पहले भी हमने आपसे वर्सा लिया था। हमने अनेक बार आपसे वर्सा लिया है। उनकी गिनती नहीं हो सकती। कितने बार तुम विश्व के मालिक बनते हो, फिर फकीर बनते हो। इस समय भारत पूरा फकीर है। तुम लिखते भी हो ड्रामा प्लैन अनुसार। वह ड्रामा अक्षर नहीं कहते। उनका प्लैन ही अपना है।

तुम कहते हो ड्रामा के प्लैन अनुसार हम फिर से स्थापना कर रहे हैं 5 हज़ार वर्ष पहले मुआफिक। कल्प पहले जो कर्तव्य किया था सो अब भी श्रीमत द्वारा करते हैं। श्रीमत द्वारा ही शक्ति लेते हैं। शिव शक्ति नाम भी है ना। तो तुम शिव शक्तियाँ देवियाँ हो, जिनका मन्दिर में भी पूजन होता है। तुम ही देवियाँ हो जो फिर विश्व का राज्य पाती हो। जगत अम्बा को देखो कितनी पूजा है। अनेक नाम रख दिये हैं। है तो एक ही। जैसे बाप भी एक ही शिव है। तुम भी विश्व को स्वर्ग बनाते हो तो तुम्हारी पूजा होती है। अनेक देवियाँ हैं, लक्ष्मी की कितनी पूजा करते हैं। दीपमाला के दिन महालक्ष्मी की पूजा करते हैं। वह हुई हेड, महाराजा-महारानी मिलाकर महालक्ष्मी कह देते हैं। उसमें दोनों आ जाते हैं। हम भी महालक्ष्मी की पूजा करते थे, धन वृद्धि को पाया तो समझेंगे महालक्ष्मी की कृपा हुई। बस हर वर्ष पूजा करते हैं। अच्छा, उनसे धन मांगते हैं, देवी से क्या मांगे? तुम संगमयुगी देवियां स्वर्ग का वरदान देने वाली हो। मनुष्यों को यह पता नहीं है कि देवियों से स्वर्ग की सब कामनायें पूरी होती हैं। तुम देवियां हो ना। मनुष्यों को ज्ञान दान करती हो जिससे सब कामनायें पूर्ण कर देती हो। बीमारी आदि होगी तो देवियों को कहेंगे ठीक करो। रक्षा करो। अनेक प्रकार की देवियाँ हैं। तुम हो संगमयुग की शिव शक्ति देवियाँ। तुम ही स्वर्ग का वरदान देती हो। बाप भी देते हैं, बच्चे भी देते हैं। महालक्ष्मी दिखाते हैं। नारायण को गुप्त कर देते हैं। बाप तुम बच्चों का कितना प्रभाव बढ़ाता है। देवियाँ 21 जन्म के लिए सुख की सब कामनायें पूरी करती हैं। लक्ष्मी से धन मांगते हैं। धन के लिए ही मनुष्य अच्छा धंधा आदि करते हैं। तुमको तो बाप आकर सारे विश्व का मालिक बनाते हैं, अथाह धन देते हैं। श्री लक्ष्मी-नारायण विश्व के मालिक थे। अभी कंगाल हैं। तुम बच्चे जानते हो राजाई की, फिर कैसे धीरे-धीरे उतरती कला होती है। पुनर्जन्म लेते-लेते कला कम होते-होते अभी देखो कैसी हालत आकर हुई है! यह भी नई बात नहीं। हर 5 हज़ार वर्ष बाद चक्र फिरता रहता है। अभी भारत कितना कंगाल है। रावण राज्य है। कितना ऊंच नम्बरवन था, अभी लास्ट नम्बर है। लास्ट में न आये तो नम्बरवन में कैसे जाए। हिसाब है ना। धीरज से अगर विचार सागर मंथन करें तो सब बातें आपेही बुद्धि में आ जायेंगी। कितनी मीठी-मीठी बातें हैं। अभी तो तुम सारे सृष्टि चक्र को जान गये हो। पढ़ाई सिर्फ स्कूल में नहीं पढ़ी जाती। टीचर शब्क (लेसन) देते हैं घर में पढ़ने के लिए, जिसको होम वर्क कहते हैं। बाप भी तुमको घर के लिए पढ़ाई देते हैं। दिन में भल धंधा आदि भी करो, शरीर निर्वाह तो करना ही है। अमृतवेले तो सबको फुर्सत रहती है। सवेरे-सवेरे दो तीन बजे का टाइम बहुत अच्छा है। उस समय उठकर बाप को प्यार से याद करो। बाकी इन विकारों ने ही तुम्हें आदि-मध्य-अन्त दु:खी किया है। रावण को जलाते हैं परन्तु इसका भी अर्थ कुछ नहीं जानते। बस सिर्फ परमपरा से रावण को जलाने की रसम चली आई है। ड्रामा अनुसार यह भी नूँध है। रावण को मारते आये हैं परन्तु रावण मरता ही नहीं। अभी तुम बच्चे जानते हो यह रावण को जलाना बन्द कब होगा। तुम अभी सच्ची-सच्ची सत्य नारायण की कथा सुनते हो। तुम जानते हो कि हमको अभी बाप से वर्सा मिलता है। बाप को न जानने कारण ही सब निधनके हैं। बाप जो भारत को स्वर्ग बनाते हैं उनको भी नहीं जानते हैं। यह भी ड्रामा में नूँध है। सीढ़ी उतरते तमोप्रधान बनें तब तो फिर बाप आये। परन्तु अपने को तमोप्रधान समझते थोड़ेही हैं। बाप कहते हैं इस समय सारा झाड़ जड़जड़ीभूत अवस्था को पाया है। एक भी सतोप्रधान नहीं। सतोप्रधान होते ही हैं शान्तिधाम और सुखधाम में। अभी हैं तमोप्रधान। बाप ही आकर तुम बच्चों को अज्ञान नींद से जगाते हैं। तुम फिर औरों को जगाते हो। जगते रहते हैं। जैसे मनुष्य मरते हैं तो उनका दीवा जलाते हैं कि रोशनी में आ जाए। अब यह है घोर अन्धियारा, आत्मायें वापस अपने घर जा न सकें। भल दिल होती है दु:ख से छूटें। परन्तु एक भी छूट नहीं सकते।

जिन बच्चों को पुरूषोत्तम संगमयुग की स्मृति रहती है वह ज्ञान रत्नों का दान करने बिना रह नहीं सकते। जैसे मनुष्य पुरूषोत्तम मास में बहुत दान-पुण्य करते हैं, ऐसे इस पुरूषोत्तम संगमयुग में तुम्हें ज्ञान रत्नों का दान करना है। यह भी समझते हो स्वयं परमपिता परमात्मा पढ़ा रहे हैं, कृष्ण की बात नहीं। कृष्ण तो है सतयुग का पहला प्रिन्स, फिर तो वह पुनर्जन्म लेते आते हैं। बाबा ने पास्ट, प्रेजन्ट, फ्युचर का भी राज़ समझाया है। तुम त्रिकालदर्शी बनते हो, और कोई त्रिकालदर्शी बना नहीं सकते सिवाए बाप के। सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान बाप को ही है, उनको ही ज्ञान का सागर कहा जाता है। ऊंच ते ऊंच भगवान ही गाया है, वही रचता है। हेविनली गॉड फादर अक्षर बड़ा क्लीयर है – हेविन स्थापन करने वाला। शिवजयन्ती भी मनाते हैं परन्तु वह कब आये, क्या किया – यह कुछ भी नहीं जानते। जयन्ती के अर्थ का ही पता नहीं तो फिर मनाकर क्या करेंगे, यह भी ड्रामा में सब है। इस समय ही तुम बच्चे ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त को जानते हो फिर कब नहीं। फिर जब बाबा आयेगा तब ही जानेंगे। अभी तुमको स्मृति आई है – यह 84 का चक्र कैसे फिरता है। भक्तिमार्ग में क्या है, उनसे तो कुछ भी मिलता नहीं। कितने भक्त लोग भीड़ में धक्का खाने जाते हैं, बाबा ने तुमको उनसे छुड़ा दिया। अब तुम जानते हो हम श्रीमत पर फिर से भारत को श्रेष्ठ बना रहे हैं। श्रीमत से ही श्रेष्ठ बनते हैं। श्रीमत संगम पर ही मिलती है। तुम यथार्थ रीति से जानते हो हम कौन थे फिर कैसे यह बने हैं, अब फिर पुरूषार्थ कर रहे हैं। पुरूषार्थ करते-करते बच्चे अगर कभी फेल हो पड़ो तो बाप को समाचार दो, बाप सावधानी देंगे फिर से खड़े होने की। कभी भी फेल्युअर हो बैठ नहीं जाना है। फिर से खड़े हो जाओ, दवाई कर लो। सर्जन तो बैठा है ना। बाबा समझाते हैं पांच मंजिल से गिरने और 2 मार (मंजिल) से गिरने का फर्क कितना है। काम विकार है 5 मंजिल, इसलिए बाबा ने कहा है काम महाशत्रु है, उसने तुमको पतित बनाया है, अब पावन बनो। पतित-पावन बाप ही आकर पावन बनाते हैं। जरूर संगम पर बनायेंगे। कलियुग अन्त और सतयुग आदि का यह संगम है।

बच्चे जानते हैं – बाप अभी कलम लगा रहे हैं फिर पूरा झाड़ यहाँ बढ़ेगा। ब्राह्मणों का झाड़ बढ़ेगा फिर सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी में जाकर सुख भोगेंगे। कितना सहज समझाया जाता है। अच्छा, मुरली नहीं मिलती है, बाप को याद करो। यह बुद्धि में पक्का करो कि शिवबाबा ब्रह्मा तन से हमको कहते हैं कि मुझे याद करो तो विष्णु के घराने में चले जायेंगे। सारा मदार पुरूषार्थ पर है। कल्प-कल्प जो पुरूषार्थ किया है, हूबहू वही चलेगा। आधाकल्प देह-अभिमानी बने हो, अब देही-अभिमानी बनने का पूरा पुरूषार्थ करो, इसमें है मेहनत। पढ़ाई तो सहज है, मुख्य है पावन बनने की बात। बाप को भूलना यह तो बड़ी भूल है। देह-अभिमान में आने से ही भूलते हो। शरीर निर्वाह अर्थ धन्धा आदि भल 8 घण्टा करो, बाकी 8 घण्टा याद में रहने के लिए पुरूषार्थ करना है। वह अवस्था जल्दी नहीं होगी। अन्त में जब यह अवस्था होगी तब विनाश होगा। कर्मातीत अवस्था हुई तो फिर यह शरीर ठहर नहीं सकेगा, छूट जायेगा क्योंकि आत्मा पवित्र बन गई ना। जब नम्बरवार कर्मातीत अवस्था हो जायेगी तब लड़ाई शुरू होगी, तब तक रिहर्सल होती रहेगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस पुरूषोत्तम मास में अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान करना है। अमृतवेले उठ विचार सागर मंथन करना है। श्रीमत पर शरीर निर्वाह करते हुए बाप ने जो होम वर्क दिया है, वह भी जरूर करना है।

2) पुरूषार्थ में कभी रूकावट आये तो बाप को समाचार देकर श्रीमत लेनी है। सर्जन को सब सुनाना है। विकर्म विनाश करने के समय कोई भी विकर्म नहीं करना है।

वरदान:- देह, सम्बन्ध और वैभवों के बन्धन से स्वतंत्र बाप समान कर्मातीत भव
जो निमित्त मात्र डायरेक्शन प्रमाण प्रवृत्ति को सम्भालते हुए आत्मिक स्वरूप में रहते हैं, मोह के कारण नहीं, उन्हें यदि अभी-अभी आर्डर हो कि चले आओ तो चले आयेंगे। बिगुल बजे और सोचने में ही समय न चला जाए – तब कहेंगे नष्टोमोहा इसलिए सदैव अपने को चेक करना है कि देह का, सम्बन्ध का, वैभवों का बन्धन अपनी ओर खींचता तो नहीं है। जहाँ बंधन होगा वहाँ आकर्षण होगी। लेकिन जो स्वतंत्र हैं वे बाप समान कर्मातीत स्थिति के समीप हैं।
स्लोगन:- सम्‍पूर्णता को समीप लाने के लिए विस्‍तार में जाने के बजाए बिन्‍दू बन बिन्‍दू बाप को याद करो।

TODAY MURLI 16 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 16 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 15 July 2019:- Click Here

16/07/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, only the one Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. He alone removes all your sorrow. No human being can remove anyone’s sorrow.
Question: What is the cause of peacelessness in the world? How is peace established?
Answer: The innumerable religions are the cause of peacelessness in the world. When there is diversity at the end of the iron age, there is peacelessness. The Father comes and establishes the one true religion and then peace is established there. You can understand that there was peace in the kingdom of Lakshmi and Narayan. There was pure religion and pure action. The benevolent Father is once again creating that new world. There is no mention of peacelessness there.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you spiritual children. Only the spiritual Father is called the Ocean of Knowledge. This has been explained to you children. In Bombay there are many social workers who continue to have meetings. The place in Bombay where they normally hold meetingsis called Bharatiya Vidhya Bhavan. There are two types of knowledge. One is worldly knowledge which is given in schools and colleges. They call that Vidhya (knowledge) Bhavan. There must also be something else there. People don’t know what knowledge is. This should be Spiritual Knowledge Bhavan. Gyan is called knowledge. Only the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Knowledge. Krishna cannot be called the Ocean of Knowledge. The praise of Krishna is separate from the praise of Shiv Baba. The people of Bharat are confused. They consider the God of the Gita to be Shri Krishna, and so they continue to open Vidhya Bhavans (places of knowledge). They don’t understand anything. That knowledge is the knowledge of the Gita. Only the one Father who is called the Ocean of Knowledge has that knowledge. Human beings do not know this. In fact, the religious scripture of the people of Bharat is just the one Bhagawad Gita which is the jewel of all scriptures. Who can be called God? The people of Bharat don’t even understand this at this time. They call Krishna or Rama or themselves the Supreme Soul. It is now the tamopradhan period; it is the kingdom of Ravan. When you children explain to anyone, tell them: God Shiva speaks. First of all, they should understand that only the one Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Knowledge and that He is called Shiva. People even celebrate the night of Shiva (Shiv Ratri), but no one is able to understand anything. Shiva must certainly have come. This is why they celebrate His night. They don’t even know who Shiva is. The Father says: The God of all is One. All souls are brothers. The Father of all souls is the one Supreme Father, the Supreme Soul, and He is called the Ocean of Knowledge. Deities do not have this knowledge. Which knowledge? No human being has the knowledge of the Creator or the beginning, middle and end of creation. They say that even the ancient rishis and munis did not know it. They don’t even understand the meaning of “ancient”. “Ancient” means the golden and silver ages. The golden age is the new world. Rishis and munis did not exist there. All the rishis and munis etc. came later. They too do not have this knowledge. They simply say, “Neti, neti” (neither this nor that). Since they too do not know, how could the people of Bharat who have now become tamoguni know? There is so much arrogance of science at this time. They believe that Bharat has become heaven through the science of the present time. That is called the pomp of Maya. They have a play showing the fall of PompeiiThey even say that, at this time, it is the fall of Bharat. The golden age is the rise and it is now the fall. This is not heaven. This is the pomp of Maya. It has to finish. They believe that, because there are planes, big palaces and lights, this is heaven. When someone dies, they say that he has gone to heaven. Even from this, they don’t understand that if he has gone to heaven, it must mean that heaven is at some other place. This is the pomp of Ravan. The unlimited Father is establishing heaven. At this time, there is a tug of war between Maya and God, between the devilish world and the Godly world. This too has to be explained to the people of Bharat. A lot of sorrow is yet to come. A lot of sorrow will come. Heaven only exists in the golden age. It cannot exist in the iron age. No one knows what the most auspicious confluence age is. The Father explains: Knowledge is the day and devotion is the night. They continue to stumble in the dark. They study so many Vedas and scriptures etc. in order to meet God. The day and night of Brahma means the day and night of Brahmins. You Brahmins are the true mouth-born creation. Those brahmins are an iron-aged physical creation. You are the most auspicious confluence-aged Brahmins. No one else knows these things. Only when they understand these things can it enter their intellects what they are doing. The Bharat, which is called heaven, was satopradhan. Therefore, this surely is hell and this is why they go from hell to heaven. There is peace and happiness there. It is the kingdom of Lakshmi and Narayan there. You can explain how the human population can be reduced and how peacelessness can be reduced. There is peacelessness in the old, iron-aged world. Only in the new world is there peace. There is peace in heaven. That is called the original, eternal, deity religion. The Hindu religion is of the present time. That cannot be called the original, eternal religion. It is because of the name Hindustan that they have called themselves Hindus. There was the original, eternal, deity religion. There was complete purity, happiness, peace, healthand wealth there; there was everything there. Now people call out: We are impure! O Purifier, come! The question arises: Who is the Purifier? Krishna cannot be called that. Only the Purifier, the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Ocean of Knowledge. He alone comes and teaches you. Knowledge is called a study. Everything depends on the Gita. You now make exhibitions and museums, etc., but people still haven’t understood the meaning of the BKs. They believe that this is another new religion. They listen to things but they don’t understand anything. The Father has said: They have completely tamopradhan, stone intellects. At this time, many have the arrogance of science. They will destroy themselves with science and so they would be called those with stone intellects. They would not be called those with divine intellects. They build bombs etc. for their own destruction. It isn’t that Shankar carries out destruction; no. Those people have created everything for their own destruction. However, those with tamopradhan and stone intellects do not understand anything. Whatever they make is for the destruction of this old world. It is only when destruction takes place that there will be victory for the new world. Those people are concerned about how to remove the sorrow of women. However, human beings cannot remove anyone’s sorrow. Only the one Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. Even the deities cannot be called that. Krishna too is a deity; he cannot be called God. They do not understand anything. Those who do understand become Brahmins and continue to explain to others. Those who are to claim a royal status and who belong to the original, eternal deity religion will emerge. How did Lakshmi and Narayan become the masters of heaven? What acts did they perform that they became the masters of the world? At this time, at the end of the iron age, there are innumerable religions and so there is peacelessness. It isn’t like that in the new world. This is now the confluence age when the Father comes and teaches you Raj Yoga. The Father alone gives you the knowledge of action, sinful action and neutral action. Souls come and take bodies in order to perform actions. Whatever actions people perform in the golden age they are neutral actions. There are no sinful actions performed there; there is no sorrow there. Only the Father comes at the end and tells you the secrets of action, neutral action and sinful action. I come at the end of the last of this one’s many births. I enter this chariot. This is the chariot of the soul, the immortal image. That isn’t just in Amritsar. All human beings have an immortal throne. Souls are immortal image. This body continues to speak and move. This is the living throne of the immortal soul. All are immortal images, but death comes to bodies. Souls are immortal. They destroy the throne. There aren’t many thrones in the golden age. At this time, there are thrones of millions of souls. Souls are said to be immortal. It is souls that become satopradhan from tamopradhan. I am eversatopradhan and pure. Although they speak of the ancient yoga of Bharat, they think that Krishna taught that. They have falsified the Gita. They have changed the name in the biography. They have inserted the name of the child instead of the Father’s. They celebrate the night of Shiva, but they don’t know how He comes. Shiva is the Supreme Soul. His praise is completely different from that of souls. You children know that Radhe and Krishna become Lakshmi and Narayan. The dual-form of Lakshmi and Narayan is called Vishnu. There is no difference. However, there are no human beings with four arms or eight arms. They have shown the goddesses etc. with so many arms. It takes time to explain this. The Father says: I am the Lord of the Poor. I come when Bharat becomes poor and there are the omens of Rahu. There were the omens of Jupiter and there are now the omens of Rahu over Bharat and the whole world. This is why the Father only comes in Bharat. He comes and establishes the new world which is called heaven. God speaks: I make you into the kings of kings. I make you into double-crowned masters of heaven. It has been 5000 years since the original, eternal, deity religion came into existence. It doesn’t exist now; they have become tamopradhan. The Father Himself gives you the introduction of the Creator and creation. So many people come to you at the exhibitions and museums, but they don’t understand anything. Scarcely a few understand and take the course to know the Creator and creation. The unlimited Father is the Creator. You receive the unlimited inheritance from Him. Only the Father gives you this knowledge. Then, when you have received the kingdom, there is no need for knowledge there. The new world of heaven is called salvation and the old world of hell is called degradation. The Father explains to you very well. You children also have to explain in the same way. You have to show them the picture of Lakshmi and Narayan. Peace is being established in the world. The foundation of the original, eternal, deity religion which the Father is now establishing doesn’t exist. The deities had a pure religion and their actions were pure. This is now the vicious world. The new world is called the viceless world, Shivalaya. You now have to explain to them so that the poor helpless ones can have some benefit. Only the Father is called the benevolent One. He comes at the most auspicious confluence age. The benevolent Father comes at the benevolent age and benefits all of you. He changes the old world and establishes the new world. There is salvation through knowledge. You can take time and explain this every day. Tell them: Only we know the Creator and the beginning, middle and end of creation. The Gita episode, in which God came and taught Raj Yoga and made us double-crowned, is now taking place. Even Lakshmi and Narayan became that by studying Raj Yoga. They studied Raj Yoga from the Father at the most auspicious confluence age. Baba explains everything so easily. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. The study of Raj Yoga is your source of income because it is through this that you become kings of kings. You have to study and teach others this spiritual study every day.
  2. Always have the intoxication that you Brahmins are the true mouth-born creation. You have moved away from the iron-aged night and come into the day. This is the most auspicious, benevolent, confluence age in which you have to benefit ourselves and everyone else.
Blessing: May you be knowledge-full and reveal the knowledge after considering the field, the pulse and the time.
The Father’s new knowledge is true knowledge and the new world is established with this new knowledge. This authority and intoxication should emerge in your form. However, it does not mean that as soon as people come, you confuse them by giving them this new knowledge. First consider the field, the pulse and the time and then give them knowledge; this is a sign of your being knowledge-full. Consider each soul’s desire, feel each one’s pulse, prepare the field and let there definitely be the internal power of fearlessness and you will then be able to reveal the true knowledge.
Slogan: To say “mine” means to make a small thing big and to say “Yours” means to make a mountain into cotton wool.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 16 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 July 2019

To Read Murli 15 July 2019 :- Click Here
16-07-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – दु:ख हर्ता सुख कर्ता एक बाप है, वही तुम्हारे सब दु:ख दूर करते हैं, मनुष्य किसी के दु:ख दूर कर नहीं सकतेˮ
प्रश्नः- विश्व में अशान्ति का कारण क्या है? शान्ति स्थापन कैसे होगी?
उत्तर:- विश्व में अशान्ति का कारण है अनेकानेक धर्म। कलियुग के अन्त में जब अनेकता है, तब अशान्ति है। बाप आकर एक सत धर्म की स्थापना करते हैं। वहाँ शान्ति हो जाती है। तुम समझ सकते हो कि इन लक्ष्मी-नारायण के राज्य में शान्ति थी। पवित्र धर्म, पवित्र कर्म था। कल्याणकारी बाप फिर से वह नई दुनिया बना रहे हैं। उसमें अशान्ति का नाम नहीं।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं, रूहानी बाप को ही ज्ञान का सागर कहा जाता है। यह तो बच्चों को समझाया है। बाम्बे में भी बहुत सोशल वर्कर्स हैं, उनकी मीटिंग होती रहती है। बाम्बे में खास जहाँ मीटिंग करते हैं उसका नाम है भारतीय विद्या भवन। अब विद्या होती है दो प्रकार की। एक है जिस्मानी विद्या, जो स्कूलों-कॉलेजों में दी जाती है। अब उसको विद्या भवन कहते हैं। जरूर वहाँ कोई दूसरी चीज़ है। अब विद्या किसको कहा जाता है, यह तो मनुष्य जानते ही नहीं। यह तो रूहानी विद्या भवन होना चाहिए। विद्या ज्ञान को कहा जाता है। परमपिता परमात्मा ही ज्ञान सागर है। कृष्ण को ज्ञान का सागर नहीं कहेंगे। शिवबाबा की महिमा अलग, कृष्ण की महिमा अलग है। भारतवासी मूँझ पड़े हैं। गीता का भगवान् कृष्ण को समझ बैठे हैं तो विद्या भवन आदि खोलते रहते हैं। समझते कुछ भी नहीं। विद्या है गीता का ज्ञान। वह ज्ञान तो है ही एक बाप में। जिसको ज्ञान का सागर कहा जाता है, जिसे मनुष्यमात्र जानते नहीं हैं। भारतवासियों का धर्म शास्त्र तो वास्तव में है ही एक – सर्व शास्त्रमई शिरोमणी भगवत गीता। अब भगवान् किसको कहा जाए? वह भी इस समय भारतवासी समझते नहीं या तो कृष्ण को कह देते हैं या राम को या अपने को ही परमात्मा कह देते। अब तो समय भी तमोप्रधान है, रावण राज्य है ना।

तुम बच्चे जब किसको समझाते हो तो बोलो शिव भगवानुवाच। पहले तो यह समझें कि ज्ञान सागर एक ही परमपिता परमात्मा है, जिसका नाम है शिव। शिवरात्रि भी मनाते हैं, परन्तु किसको भी समझ में नहीं आता है। जरूर शिव आया हुआ है तब तो रात्रि मनाते हैं। शिव कौन है – यह भी नहीं जानते। बाप कहते हैं भगवान् तो सबका एक ही है। सब आत्मायें भाई-भाई हैं। आत्माओं का बाप एक ही परमपिता परमात्मा है, उनको ही ज्ञान सागर कहेंगे। देवताओं में यह ज्ञान है नहीं। कौन-सा ज्ञान? रचयिता और रचना के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान कोई मनुष्य मात्र में नहीं है। कहते भी हैं प्राचीन ऋषि-मुनि नहीं जानते थे। प्राचीन का भी अर्थ नहीं जानते। सतयुग-त्रेता हुआ प्राचीन। सतयुग है नई दुनिया। वहाँ तो ऋषि-मुनि थे ही नहीं। यह ऋषि-मुनि आदि सब बाद में आये हैं। वह भी इस ज्ञान को नहीं जानते। नेती-नेती कह देते हैं। वही जानते नहीं तो भारतवासी जो अभी तमोगुणी हो गये हैं, वह कैसे जान सकते?

इस समय साइन्स का घमण्ड भी कितना है। इस साइन्स द्वारा समझते हैं भारत स्वर्ग बन गया है। इसको माया का पाम्प कहा जाता है। फॉल ऑफ पाम्प का एक नाटक भी है। कहते भी हैं कि इस समय भारत का पतन है। सतयुग में उत्थान है, अब पतन है। यह कोई स्वर्ग थोड़ेही है। यह तो माया का पाम्प है, इनको खत्म होना ही है। मनुष्य समझते हैं – विमान हैं, बड़े-बड़े महल, बिजलियां हैं – यही स्वर्ग है। कोई मरता है तो भी कहते स्वर्गवासी हुआ। इससे भी समझते नहीं कि स्वर्ग गया तो जरूर स्वर्ग कोई और है ना। यह तो रावण का पाम्प है, बेहद का बाप स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। इस समय है चटाबेटी माया और ईश्वर की, आसुरी दुनिया और ईश्वरीय दुनिया की। यह भी भारतवासियों को समझाना पड़े। दु:ख तो अजुन बहुत आने वाले हैं। अथाह दु:ख आना है। स्वर्ग तो होता ही सतयुग में है। कलियुग में हो न सके। यह भी किसको पता नहीं पुरूषोत्तम संगमयुग किसको कहा जाता है। यह भी बाप समझाते हैं ज्ञान है दिन, भक्ति है रात। अन्धियारे में धक्के खाते रहते हैं। भगवान् से मिलने के लिए कितने वेद-शास्त्र आदि पढ़ते हैं। ब्रह्मा का दिन और रात सो ब्राह्मणों का दिन और रात। सच्चे मुख वंशावली ब्राह्मण तुम हो। वह तो हैं कलियुगी कुख वंशावली ब्राहमण। तुम हो पुरूषोत्तम संगमयुगी ब्राह्मण। यह बातें और कोई नहीं जानते। यह बातें जब समझें तब बुद्धि में आये कि हम यह क्या कर रहे हैं। भारत सतोप्रधान था, जिसको ही स्वर्ग कहा जाता है। तो जरूर यह नर्क है, तब तो नर्क से स्वर्ग में जाते हैं। वहाँ शान्ति भी है, सुख भी है। लक्ष्मी-नारायण का राज्य है ना। तुम समझा सकते हो – मनुष्यों की वृद्धि कैसे कम हो सकती है? अशान्ति कैसे कम हो सकती है? अशान्ति है ही पुरानी दुनिया कलियुग में। नई दुनिया में ही शान्ति होती है। स्वर्ग में शान्ति है ना। उनको ही आदि सनातन देवी-देवता धर्म कहा जाता है। हिन्दू धर्म तो अभी का है, इनको आदि सनातन धर्म नहीं कह सकते। यह तो हिन्दुस्तान के नाम पर हिन्दू कह देते हैं। आदि सनातन देवी-देवता धर्म था। वहाँ कम्पलीट पवित्रता, सुख, शान्ति, हेल्थ, वेल्थ आदि सब था। अभी पुकारते हैं हम पतित हैं, हे पतित-पावन आओ। अब प्रश्न है पतित-पावन कौन? कृष्ण को तो नहीं कहेंगे। पतित-पावन परमपिता परमात्मा ही ज्ञान का सागर है। वही आकर पढ़ाते हैं। ज्ञान को पढ़ाई कहा जाता है। सारा मदार है गीता पर। अभी तुम प्रदर्शनी, म्युजियम आदि बनाते हो लेकिन अभी तक बी.के. का अर्थ नहीं समझते। समझते हैं यह कोई नया धर्म है। सुनते हैं, समझते कुछ नहीं। बाप ने कहा है बिल्कुल ही तमोप्रधान पत्थरबुद्धि हैं। इस समय साइंस घमण्डी भी बहुत बन गये हैं, साइन्स से ही अपना विनाश कर लेते हैं तो पत्थरबुद्धि कहेंगे ना। पारसबुद्धि थोड़ेही कहेंगे। बाम्ब्स आदि बनाते हैं अपने विनाश के लिये। ऐसे नहीं, शंकर कोई विनाश करता है। नहीं, इन्होंने अपने विनाश के लिये सब बनाया है। परन्तु तमोप्रधान पत्थरबुद्धि समझते नहीं हैं। जो कुछ बनाते हैं इस पुरानी सृष्टि के विनाश के लिये। विनाश हो तब फिर नई दुनिया की जयजयकार हो। वह तो समझते हैं स्त्रियों का दु:ख कैसे दूर करें? परन्तु मनुष्य थोड़ेही किसका दु:ख दूर कर सकते हैं। दु:ख हर्ता, सुख कर्ता तो एक ही बाप है। देवताओं को भी नहीं कहेंगे। कृष्ण भी देवता हो गया। भगवान् नहीं कह सकते। यह भी समझते नहीं। जो समझते हैं वह ब्राह्मण बन औरों को भी समझाते रहते हैं। जो राज्य पद के अथवा आदि सनातन देवता धर्म के हैं वह निकल आते हैं। लक्ष्मी-नारायण स्वर्ग के मालिक कैसे बनें, क्या कर्म किया जो विश्व के मालिक बनें? इस समय कलियुग अन्त में तो अनेकानेक धर्म हैं तो अशान्ति है। नई दुनिया में ऐसे थोड़ेही होता है। अभी यह है संगमयुग, जबकि बाप आकर राजयोग सिखलाते हैं। बाप ही कर्म-अकर्म-विकर्म की नॉलेज सुनाते हैं। आत्मा शरीर लेकर कर्म करने आती है। सतयुग में जो कर्म करते वह अकर्म हो जाते हैं, वहाँ विकर्म होता नहीं। दु:ख होता ही नहीं। कर्म, अकर्म, विकर्म की गति बाप ही आकर अन्त में सुनाते हैं। मैं इनके बहुत जन्मों के अन्त के भी अन्त में आता हूँ। इस रथ में प्रवेश करता हूँ। अकाल मूर्त आत्मा का यह रथ है। सिर्फ एक अमृतसर में नहीं, सभी मनुष्यों का अकालतख्त है। आत्मा अकाल मूर्त है। यह शरीर बोलता चलता है। अकाल आत्मा का यह चैतन्य तख्त है। अकाल मूर्त तो सभी हैं बाकी शरीर को काल खा जाता है। आत्मा तो अकाल है। तख्त तो खलास कर देते हैं। सतयुग में तख्त कोई बहुत थोड़ेही होते हैं। इस समय करोड़ों आत्माओं के तख्त हैं। अकाल आत्मा को कहा जाता है। आत्मा ही तमोप्रधान से सतोप्रधान बनती है। मैं तो एवर सतोप्रधान पवित्र हूँ। भल कहते हैं प्राचीन भारत का योग, परन्तु वह भी समझते हैं कृष्ण ने सिखाया था। गीता को ही खण्डन कर दिया है। जीवन कहानी में नाम बदल दिया है। बाप के बदले बच्चे का नाम डाल दिया है। शिवरात्रि मनाते हैं परन्तु वह कैसे आते हैं, यह जानते नहीं हैं। शिव है ही परम आत्मा। उनकी महिमा बिल्कुल अलग है, आत्माओं की महिमा अलग है। बच्चों को यह पता है राधे-कृष्ण ही लक्ष्मी-नारायण हैं। लक्ष्मी-नारायण के दो रूप को ही विष्णु कहा जाता है। फ़र्क तो है नहीं। बाकी 4 भुजा वाला, 8 भुजा वाला कोई मनुष्य होता नहीं है। देवियों आदि को कितनी भुजायें दे दी है। समझाने में समय लगता है।

बाप कहते हैं मैं हूँ ही गरीब निवाज़। मैं आता भी तब हूँ जब भारत गरीब बन जाता है। राहू का ग्रहण बैठ जाता है। बृहस्पति की दशा थी, अब राहू का ग्रहण भारत में तो क्या सारे वर्ल्ड पर है इसलिये बाप फिर भारत में आते हैं, आकर नई दुनिया स्थापन करते हैं, जिसको स्वर्ग कहा जाता है। भगवानुवाच – मैं तुमको राजाओं का राजा, डबल सिरताज स्वर्ग का मालिक बनाता हूँ। पांच हज़ार वर्ष हुआ जबकि आदि सनातन देवी-देवता धर्म था। अभी वह है नहीं। तमोप्रधान हो गये हैं। बाप खुद ही अपना अर्थात् रचयिता और रचना का परिचय देते हैं। तुम्हारे पास प्रदर्शनी, म्युज़ियम में इतने आते हैं, समझते थोड़ेही हैं। कोई बिरले समझकर कोर्स करते हैं। रचयिता और रचना को जानते हैं। रचता है बेहद का बाप। उनसे बेहद का वर्सा मिलता है। यह नॉलेज बाप ही देते हैं। फिर राजाई मिल जाती है तो वहाँ नॉलेज की दरकार नहीं। सद्गति कहा जाता है नई दुनिया स्वर्ग को, दुर्गति कहा जाता है पुरानी दुनिया नर्क को। बाप समझाते तो बहुत अच्छी तरह से हैं। बच्चों को भी ऐसे समझाना है। लक्ष्मी-नारायण का चित्र दिखाना है। यह विश्व में शान्ति स्थापन हो रही है। आदि सनातन देवी-देवता धर्म का फाउन्डेशन है नहीं जो बाप स्थापन कर रहे हैं। देवताओं का पवित्र धर्म, पवित्र कर्म था। अभी यह है ही विशश वर्ल्ड। नई दुनिया को कहा जाता है वाइसलेस वर्ल्ड, शिवालय। अब समझाना पड़े तो बिचारों का कुछ कल्याण हो। बाप को ही कल्याणकारी कहा जाता है। वह आते ही हैं पुरूषोत्तम संगमयुग पर। कल्याणकारी युग में कल्याणकारी बाप आकर सबका कल्याण करते हैं। पुरानी दुनिया को बदल नई दुनिया स्थापन कर देते हैं। ज्ञान से सद्गति होती है। इस पर रोज़ टाइम लेकर समझा सकते हो। बोलो, रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को हम ही जानते हैं। यह गीता का एपीसोड चल रहा है जिसमें भगवान् ने आकर राजयोग सिखाया है। डबल सिरताज बनाया है। यह लक्ष्मी-नारायण भी राजयोग से यह बने हैं। इस पुरूषोत्तम संगमयुग पर बाप से राजयोग सीखते हैं। बाबा हर बात कितना सहज समझाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) राजयोग की पढ़ाई सोर्स ऑफ इनकम है क्योंकि इससे ही हम राजाओं का राजा बनते हैं। यह रूहानी पढ़ाई रोज़ पढ़नी और पढ़ानी है।

2) सदा नशा रहे कि हम ब्राह्मण सच्चे मुख वंशावली हैं, हम कलियुगी रात से निकल दिन में आये हैं, यह है कल्याणकारी पुरूषोत्तम युग, इसमें अपना और सर्व का कल्याण करना है।

वरदान:- धरनी, नब्ज और समय को देख सत्य ज्ञान को प्रत्यक्ष करने वाले नॉलेजफुल भव
बाप का यह नया ज्ञान, सत्य ज्ञान है, इस नये ज्ञान से ही नई दुनिया स्थापन होती है, यह अथॉरिटी और नशा स्वरूप में इमर्ज हो लेकिन इसका अर्थ यह नहीं कि आते ही किसी को नये ज्ञान की नई बातें सुनाकर मुंझा दो। धरनी, नब्ज और समय सब देख करके ज्ञान देना – यह नालेजफुल की निशानी है। आत्मा की इच्छा देखो, नब्ज देखो, धरनी बनाओ लेकिन अन्दर सत्यता के निर्भयता की शक्ति जरूर हो, तब सत्य ज्ञान को प्रत्यक्ष कर सकेंगे।
स्लोगन:- मेरा कहना माना छोटी बात को बड़ी बनाना, तेरा कहना माना पहाड़ जैसी बात को रुई बना देना।

TODAY MURLI 16 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 16 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 15 July 2018 :- Click Here

16/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, don’t commit a sin and then hide it. A lot of punishment is accumulated by those who hide their sins and secretly sit in a gathering. Therefore, remain cautious. Never make the severe mistake of indulging in vice.
Question: By keeping which aim constantly in front of you will you continue to move forward in your efforts?
Answer: Aim to become a worthy child of the Mother and Father and seated on the heart throne. Follow the Father at every step. Don’t perform any such activity through which you would become someone who defames the name of the clan. Such worthy children consider themselves to be pilgrims and remain constantly on the pilgrimage. Pilgrims never become impure on a pilgrimage. If someone is influenced by vice, he becomes completely crushed and all truth is destroyed and he becomes very unhappy.
Song: Do not forget the days of your childhood! 

Om shanti. This song is only for you children. If, after saying “Mama, Baba” you fall into vice, then you should understand that you have died. This is a destination where great caution is needed. I am a child of that Supreme Father, the Supreme Soul, and I am without an image. In fact, I do not have an image while I am there. Then I adopt an image, experience 84 births and then become an adopted child of God. If you have the faith of being an adopted child and you then indulge in vice, you die. You understand that the Father is the One who gives happiness, but He is then also the One who takes the full account through Dharamraj. The Father doesn’t cause sorrow. He is the Bestower of Happiness, but Baba has explained that, just as the Government has a Dharamraj with it in the form of the Chief Justice, who makes people take an oath, so, too, here, God Himself, says: If you fall into vice and become impure and don’t tell Baba about it, there will continue to be one hundred-fold punishment. If, after becoming a child of the Father, you secretly indulge in vice and don’t tell Baba about it, you would die completely. Then, no matter how much effort you make, you wouldn’t be able to gain victory. Baba is warning you! There are many children who hide things from Baba. It is a great sin to indulge in vice. When you hide something, you die. It would be better if such ones didn’t become the children. When a child is unworthy, his father would say: Better the child were dead! No one should think that Baba doesn’t know anyway. Yes, this Brahma is baharyami (the one who knows everything external) and he doesn’t know, but that Baba knows very well. The Father says: I have to give happiness. Everyone receives punishment according to their actions. Baba tells everyone. In that, too, the women have to remain very cautious. You must never tell lies. Baba is more merciful to the women than to the men because the women have been harassed a lot. The Father comes and places the urn on the mothers and therefore the mothers have a great responsibility. Baba doesn’t emphasise anger as much as He does lust. In fact, no one impure can sit in this gathering. Sometimes Baba has to go and meet impure ones. Eminent people are more impure because they have a lot of wealth. This is why the mothers called out to be protected from being stripped. All are unhappy. Having heard the call of the mothers the Father has come. Mothers should remain very cautious. The names of the mothers are Pukhraj pari, Neelam pari (angels having names of different jewels). Baba cautions you: Here, devils are made into deities. Impure ones are called devils. This whole world is impure and devilish; not a single person in the impure world is pure. It is explained about sannyasis that they are not as pure as deities. They still reside in the impure world and they belong to the path of isolation. In the golden age, all were pure and completely viceless. You have come here to become completely pure because this world is completely impure. Not a single one is pure. The silver age is said to be two degrees fewer. In the golden age, they are 16 celestial degrees, and then, in the silver age, there are two degrees fewer. In fact, the silver age cannot be called heaven. Heaven is the golden age. You children have to make preparations for the golden age. If you fall into vice, you cannot go to heaven. The main thing is not to become impure. Shiv Baba knows, but how much can He ask each one? After becoming impure, if you hide it, severe punishment will have to be experienced. The tribunal will sit and this Baba will also sit. Dharamraj, too, will sit. Then Dharamraj will tell you: At that time you indulged in vice and you then came and sat in the gathering. You didn’t tell Baba. Now there has to be punishment. Therefore, Baba says: Remain very cautious! You cannot indulge in vice and then sit here. Many such people go and sit at the centres. Baba knows, but if He were to tell them not to sit here, they would become devilish at some point and create obstacles. They would become traitors and begin to cause upheaval. This is called the impure kingdom, the world of thorns. There are no kings or queens. As are the senior ministers , so the people. They would not understand these things. You should remain honest with the true Baba. The Lord is pleased with an honest heart. He will open the locks on your intellects. If your heart is not honest, the lock will not open and you will then continue to wilt. There will continue to be obstacles and this is why Baba explains to you in advance. It is also written in the scriptures: Devils would come and secretly sit in Indraprasth. People come and sit just like that here and at the centres. They come to see what we do and then sit there looking at the kumaris and causing mischief. The unlimited Father now comes and explains to you children, but the world doesn’t know. They have put Krishna’s name instead of the Father’s in the Gita. God Himself is the Ocean of Knowledge and He Himself sits here and explains. You have to remember that Father because you now have to return home. You are now on the pilgrimage of remembrance. No one indulges in vice while on a pilgrimage. This is a long journey. You are on the pilgrimage for as long as you live. If you indulge in vice while on the pilgrimage, you become completely crushed. Always remember that you are on a pilgrimage and that you mustn’t indulge in vice. The world nowadays is very dirty. Even guides on a pilgrimage are very dirty. Baba is very experienced. The Father comes and uplifts the kumaris and mothers more than others. The name “Jagadamba Shakti Army” is remembered. Baba explains: You have to remember that whatever actions you perform, others who see you will do the same. If BKs have any vices, body consciousness or greed etc., they are not able to do serv ice. They would fail and their students would then become upset. If a BK is good, she will definitely manage a shop well. Those who do good serv ice become emperors and empresses. Less service and you would become maids and servants of the emperors and empresses. Lakshmi and Narayan will have maids and servants; they live with the kings and queens. Here, you are changing from human beings into deities. You are on a pilgrimage. If you forget the pilgrimage, if you forget Shiv Baba and the sweet home, you will be slapped very hard by Maya. You have to make a lot of effort. Remain safe from the vices. Nothing can remain hidden here. Nothing can remain hidden from Shiv Baba. He has to give punishment. It is said: Follow the Mother and Father. The Father would not do anything like that. Many children come to Baba and Baba can tell from their conversation whether someone is impure or hardly remains pure. Baba has doubts and He then has to explain in the murli. Many hide this. It is very bad to indulge in vice on a pilgrimage. You will then not be able to be threaded in the rosary of victory. If you wish to become part of the sun dynasty, then, never become impure on the pilgrimage. Children continually forget that they are on a pilgrimage. Some don’t remember Baba for even an hour or half an hour throughout the day. It is very difficult for them to stay in remembrance of Baba. Then, they go into a royalclan but claim the status of maids and servants. You must definitely make effort and become seated on the throne of the mother and father. Otherwise, the Father would say that you are an unworthy child who is not moving along very well. You Brahmins are on a pilgrimage. If you behave badly and defame the name of the clan, you will experience a lot of punishment. You have been jailbirds in the womb for birth after birth. At this time, all human beings are jailbirds ;they repeatedly continue to experience punishment. You now have to go into the palace of a womb. Therefore, you should make so much effort. No matter where you may be sitting, on a train or anywhere else on the pilgrimage, you have to stay in remembrance. You all say that you will marry Lakshmi or Narayan. Therefore, first become like that. If you don’t attain a status, what did you do? Baba continues to caution you. When you come to Baba, Baba makes you laugh and entertains you very well. Some are insects of attachment just like monkeys. Their intellects’ yoga with their friends and relatives doesn’t break at all. Those who become impure even write to Baba: Baba, I was defeated. I fell into the gutter of vice. They become completely crushed. Baba continues to caution you: You are on a pilgrimage. There shouldn’t be the vice of lust here, otherwise you will become very unhappy. You have to claim your inheritance of Paradise from the Father and so don’t ruin everything you have, even by mistake. Lust is the greatest enemy. It causes you sorrow from its beginning through the middle to the end. In the land of death, everyone continues to experience sorrow from the beginning through the middle to the end. The golden age is called the land of immortality. You receive the sovereignty by listening to the story of immortality from Shiv Baba, the Lord of Immortality. The old mothers and the kumaris have been saved from vice and the widows are very fortunate. Shiv Baba is the Husband of all husbands. If you come to God’s school and listen to the murli, you will hear new things. The unlimited Father makes you into the masters of heaven, the pure world, and so you should instantly become pure. If you continue to choke and drink poison, you won’t be able to imbibe. A golden vessel is required. The Father has to become egoless and come into the impure world. Only the children know Me. Among them too, Maya catches hold of some by their nose and makes them fall; they don’t have regard. Oho! God is teaching us! We are so fortunate! Baba is sitting in such an ordinary body. You children also have to become egoless. He is the Incorporeal. He cannot have arrogance of a body. You too become egoless. When you die, the world is dead for you. We now have to go to Baba. Why should you remember this graveyard? If you continue to talk to yourself in this way, your mercury of happiness will rise and you will remain constantly cheerful. We are on a pilgrimage with Baba. Baba has come to take us back home. It should not be that Maya cuts off your ears. Then, even though you listen, you won’t be able to imbibe knowledge; your mercury of happiness will not rise. If you donate to many others you will continue to receive blessings from many. The path of knowledge is for you to remain very sweet with everyone. You mustn’t become salt water. Fulfil your responsibilities to the vicious relationships and the divine relationships. Become loving to both sides. The Father is pleased to see His worthy children. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. We are now on a pilgrimage, and we therefore have to move along very cautiously. We definitely have to remain pure.
  2. Become egoless, like the Father. We have to go to Baba. Therefore, remove your attachment from everyone. Talk to yourself and remain cheerful.
Blessing: May you be a spinner of the discus of self-realisation and remain constantly free from any spin of sorrow and also liberate others from that.
When children who are influenced by their physical senses say, “Today, I was deceived by my eyes, mouth or drishti”, to be deceived means to experience sorrow. People of the world say, “I didn’t wish to be involved but I got caught in a spin.” However, the children who are spinners of the discus of self-realisation can never be caught in any type of spin of deception. They are the ones who remain free from any spin of sorrow and they also liberate others. They are the ones who, as masters, make their physical senses function.
Slogan: Be seated on your immortal throne and maintain your elevated pride and honour (shaan) and you will never then be distressed (pareshaan).

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 16 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 July 2018

To Read Murli 15 July 2018 :- Click Here
16-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – कोई भी विकर्म करके छिपाना नहीं, छिपकर सभा में बैठने वाले पर बहुत दण्ड पड़ता है इसलिए सावधान, विकार की कड़ी भूल कभी भी नहीं हो”
प्रश्नः- किस लक्ष्य को सामने रखते हुए पुरुषार्थ में सदा आगे बढ़ते रहना है?
उत्तर:- लक्ष्य है – हमें सपूत बच्चा बन मात-पिता के तख्तनशीन बनना है। हर कदम में फालो फादर करना है। ऐसी कोई चलन नहीं चलनी है, जिससे कुल कलंकित बनें। ऐसे सपूत बच्चे अपने को यात्री समझ यात्रा में सदा तत्पर रहते हैं। यात्री कभी भी यात्रा पर पतित नहीं बनते, अगर कोई विकार के वश होते हैं तो चकनाचूर हो जाते हैं, सत्यानाश हो जाती है। फिर बहुत दु:खी होते हैं।
गीत:- बचपन के दिन भूला न देना…….. 

ओम् शान्ति। यह बच्चों के लिए ही गीत है। मम्मा बाबा कहकर फिर विकार में गया तो ऐसे समझो मर गया। यह मंजिल बड़ी खबरदारी की है। मैं उस परमपिता परमात्मा की सन्तान हूँ और विचित्र हूँ। मेरा भी वास्तव में कोई चित्र नहीं है, जब वहाँ हूँ। फिर चित्र ले 84 जन्म भोग अब हम ईश्वरीय गोद की सन्तान बनता हूँ। ईश्वरीय गोद की सन्तान निश्चय कर फिर अगर विकारों में गया तो मरा। यह तो समझते हो – बाप सुख देने वाला भी है तो फिर धर्मराज द्वारा हिसाब भी पूरा लेते हैं। बाप दु:ख नहीं देते हैं। वह तो सुख दाता है लेकिन बाबा ने समझाया है – जैसे गवर्मेन्ट है तो उनके साथ धर्मराज अर्थात् चीफ जस्टिस (बड़ा जज) भी है। एक-दो को कसम उठवाते हैं ना। यहाँ भगवान खुद कहते हैं – अगर तुम विकारों में गिर पतित बने और सुनाया नहीं तो सौगुणा दण्ड पड़ता रहेगा। बाप का बच्चा बनकर फिर अगर छिपकर नर्क का द्वार बने और फिर बाबा को समाचार नहीं दिया तो एकदम मर पड़ेंगे फिर कितना भी पुरुषार्थ करे, विजय पा नहीं सकेंगे। बाबा इतला दे रहे हैं। बहुत बच्चे हैं जो छिपाते हैं। विकार में जाना बड़ा पाप है। छिपाया और मरा। ऐसे तो बच्चा न बनें तो अच्छा है। बच्चा कोई कपूत होता है तो बाप कहते हैं ना यह बच्चा तो मुआ भला। ऐसे कोई न समझे – बाबा को थोड़ेही मालूम पड़ता है। हाँ, यह (ब्रह्मा) भल बाहरयामी है, इनको पता नहीं पड़ता है। परन्तु वह बाबा तो अच्छी रीति जानते हैं। बाप कहते हैं – मुझे सुख देना है। सजायें फिर हर एक को चलन अनुसार मिलती हैं। बाबा सभी को बतलाते हैं। इसमें भी नारियों को बहुत खबरदार रहना है। कभी भी झूठ नहीं बोलना है। बाबा पुरुषों से नारी पर जास्ती रहमदिल रहते हैं क्योंकि नारी बहुत सताई जाती है। बाप आकर माताओं पर कलष रखते हैं, तो माताओं पर बड़ी रेसपान्सिबिलिटी है। बाबा क्रोध के लिए इतना नहीं कहते, जितना विकार के लिए। वास्तव में कोई भी पतित इस सभा में बैठ नहीं सकता। कहाँ फिर पतितों से मिलना भी पड़ता है। बड़े आदमी जास्ती पतित होते हैं क्योंकि उन्हों के पास पैसा होता है ना इसलिए माताओं ने ही पुकारा है कि नंगन होने से बचाओ। सब दु:खी हैं। माताओं की पुकार सुनकर बाप आते हैं। माताओं को बहुत खबरदार रहना चाहिए। नाम भी माताओं का है – पुखराज परी, नीलम परी……..।

बाबा सावधान करते हैं – यहाँ असुर से देवता बनाया जाता है। असुर पतित को कहा जाता है। यह सारी पतित आसुरी दुनिया है। पतित दुनिया में पावन कोई होता नहीं। सन्यासियों के लिए भी समझाया है कि वह कोई देवताओं जैसे पावन नहीं हैं। रहते तो फिर भी पतित दुनिया में हैं। और हैं भी निवृत्ति मार्ग वाले। सतयुग में तो सब पवित्र सम्पूर्ण निर्विकारी थे। तुम यहाँ आये हो सम्पूर्ण पावन बनने क्योंकि यह सम्पूर्ण पतित दुनिया है। एक भी पावन नहीं। त्रेता को भी कहा जाता है 2 कला कम। सतयुग में हैं 16 कला, त्रेता में दो कला कम हो जाती हैं। वास्तव में त्रेता को स्वर्ग नहीं कहेंगे। स्वर्ग है ही सतयुग। तुम बच्चों को तैयारी करनी है सतयुग के लिए। विकार में गिरे तो स्वर्ग में आ नहीं सकेंगे। मूल बात यह है कि पतित नहीं बनना है। शिवबाबा तो जानते हैं ना परन्तु एक-एक से कितना पूछते रहेंगे। अपवित्र बन और फिर छिपाया तो बहुत-बहुत कड़ी सजा भोगनी पड़ेगी। ट्रिब्युनल बैठती है फिर यह बाबा भी बैठेंगे। धर्मराज भी बैठेंगे। फिर धर्मराज बतलाते हैं – तुम फलाने समय विकार में गये और सभा में आकर बैठे। बताया नहीं था, अब खाओ सजा इसलिए बाबा कहते हैं – बहुत खबरदार रहना है। कभी भी विकार में जाकर फिर यहाँ बैठ नहीं सकते। ऐसे बहुत सेन्टर्स पर आकर बैठते हैं। बाबा जानते हैं – अगर कहें न बैठो तो कोई समय फिर असुर बन विघ्न डालते हैं। ट्रेटर बन पड़ेंगे। हंगामा करने लग पड़ेंगे। इसको कहा जाता है – पतित राज्य, कांटों की दुनिया। राजा-रानी तो है नहीं। यथा बड़े मिनिस्टर तथा प्रजा। वह इन बातों को समझेंगे नहीं। सच्चे बाबा के साथ सच्चा होना चाहिए। सच्ची दिल पर साहेब राजी। बुद्धि का ताला खोल देंगे। सच्ची दिल नहीं होगी तो ताला नहीं खोलेंगे। फिर मुरझाते रहेंगे। विघ्न पड़ते रहेंगे, इसलिए बाबा समझा देते हैं। शास्त्रों में भी लिखा हुआ है – इन्द्रप्रस्थ में शैतान आकर छिपकर बैठ जाते थे। यहाँ अथवा सेन्टर में तो ऐसे ही आकर बैठ जाते हैं। देखें क्या है फिर कन्याओं को देखेंगे। चंचलता करेंगे।

अब बेहद का बाप आकर बच्चों को समझाते हैं, दुनिया नहीं जानती है। गीता में बाप के बदले कृष्ण का नाम डाल दिया है। भगवान तो खुद ज्ञान का सागर है, वह बैठ समझाते हैं। उस बाप को ही याद करना है क्योंकि अब वापिस जाना है। तुम अब याद की यात्रा पर हो। तीर्थ यात्रा पर कभी कोई विकार में नहीं जाते हैं। यह लम्बी यात्रा है। जब तक जीते हैं तब तक यात्रा पर हैं। यात्रा पर चलते-चलते विकार में गिरा तो चकनाचूर हो जायेगा। यह ख्याल में रखना है – हम यात्रा पर हैं, विकार में नहीं जाना है। आजकल दुनिया तो बहुत गन्दी है। तीर्थों पर भी पण्डे लोग बहुत गन्दे होते हैं। बाबा अनुभवी बहुत है। तो बाप आकर सबसे जास्ती कन्याओं और माताओं को उठाते हैं। जगत अम्बा शक्ति सेना नाम गाया हुआ है। बाबा समझाते हैं, यह तो ख्याल रखना होता है – जैसा कर्म हम करेंगे हमको देख और करेंगे। अगर बी.के. में ही कोई विकार, देह-अभिमान वा लोभ आदि होगा तो सर्विस कर नहीं सकेंगी। फिर नापास हो जाती हैं, जिज्ञासु नाराज हो जाते हैं। ब्रह्माकुमारी अच्छी होगी तो जरूर अच्छा दुकान चलायेगी। जो अच्छी सर्विस करते हैं तो महाराजा-महारानी बनते हैं। कम सर्विस तो महाराजा-महारानी के दास-दासियां बन पड़ेंगे। लक्ष्मी-नारायण के पास दास-दासियां भी तो होंगे ना। वह तो किंग क्वीन के साथ रहते हैं। यहाँ तुम मनुष्य से देवता बनते हो। तुम यात्रा पर हो। यात्रा को भूले, शिवबाबा अथवा स्वीट होम को भूले तो माया का थप्पड़ बड़ा जोर से लग जाता है। तुमको बहुत पुरुषार्थ करना है। विकार से बचकर रहना है। यहाँ कोई भी बात छिप नहीं सकती। शिवबाबा से कुछ छिप न सके। सजा तो उनको देनी है।

कहा जाता है – फालो फादर मदर……..। फादर थोड़ेही ऐसे कुछ करेंगे। बाबा के पास बहुत आते हैं, उनकी बातचीत से ही पता पड़ जाता है कि यह पतित है। मुश्किल पवित्र रहते होंगे। शक पड़ता है फिर मुरली में समझाना पड़ता है। बहुत हैं जो छिपाते हैं। यात्रा पर विकार में जाना बड़ा खराब है। तुम विजय माला में पिरो नहीं सकेंगे। चाहते हो – हम सूर्यवंशी बनें तो यात्रा पर चलते कभी अपवित्र नहीं बनना है। यात्रा पर हूँ – यह बच्चे भूलते रहते हैं। कोई तो सारे दिन में एक घण्टा, आधा घण्टा भी याद नहीं करते। बाबा की याद में रहना बड़ा मुश्किल है। फिर रॉयल घराने में भी आकर दास-दासी पद पाते हैं। पुरुषार्थ कर मात-पिता के तख्तनशीन बन दिखाओ। नहीं तो बाप कहेंगे कपूत बच्चा है जो ठीक रीति से चलते नहीं हैं। तुम ब्राह्मण यात्रा पर हो, अगर कुछ ऐसी चलन चल कुल को कलंक लगाया तो बहुत सजा खायेंगे। जन्म-जन्मान्तर तो गर्भ जेल बर्डस बने हो। इस समय सभी मनुष्य जेल बर्डस हैं। घड़ी-घड़ी सजा खाते हैं। तुमको तो अभी गर्भ महल में जाना है। तो कितनी मेहनत करनी चाहिए! भले तुम कहाँ भी बैठे हो, ट्रेन में हो अथवा कहाँ भी तुम यात्रा पर हो, याद में रहना है। कहते तो सब हैं – हम नारायण वा लक्ष्मी को वरेंगे। तो ऐसा बनकर दिखाओ। पद न पाया तो बाकी क्या किया। बाबा सावधान कर देते हैं। बाबा के पास आते हो तो बाबा अच्छी रीति हंसाते-बहलाते हैं। कोई तो मोह के कीड़े ऐसे हैं जैसे बन्दर-बन्दरियां। मित्र-सम्बन्धियों आदि से बुद्धियोग टूटता ही नहीं है। जो अपवित्र बनते हैं फिर लिखते भी हैं – बाबा, हमने हार खाई, काम के गटर में गिर पड़ा। चकनाचूर हो जाते हैं। बाबा सावधान करते रहते हैं – तुम यात्रा पर हो। काम विकार यहाँ नहीं होना चाहिए। नहीं तो बहुत दु:खी होंगे। बाप से वैकुण्ठ का वर्सा लेना है तो ऐसे भूलकर भी अपनी सत्यानाश नहीं कर देना। काम महाशत्रु है। आदि-मध्य-अन्त दु:ख देने वाला है। मृत्युलोक में सब आदि-मध्य-अन्त दु:ख भोगते रहते हैं। सतयुग को अमरलोक कहा जाता है। अमरनाथ शिवबाबा से कथा सुनने से बादशाही मिलती है। बुढ़ियायें और कन्यायें विकार से बची हुई हैं, विधवायें भी बहुत भाग्यशाली हैं। पतियों का पति तो शिवबाबा है। ईश्वरीय पाठशाला में आकर मुरली सुनेंगे तो नई-नई बातें सुनेंगे। बेहद का बाप स्वर्ग पवित्र दुनिया का मालिक बनाते हैं तो फट से पवित्र बनना चाहिए ना। घुटका खाते रहेंगे, विष पीते रहेंगे तो धारणा नहीं होगी। इसमें सोने का बर्तन चाहिए। बाप को निरहंकारी बन पतित दुनिया में आना पड़ता है। मुझे सिर्फ बच्चे ही जानते हैं। उनमें से भी माया कोई-कोई को नाक से पकड़ गिरा देती है। वह रिगार्ड नहीं रखते। ओहो, भगवान हमको पढ़ाते हैं! हम कितने सौभाग्यशाली हैं! बाबा कितने साधारण तन में बैठा है! तुम बच्चों को भी निरहंकारी बनना है। वह है ही निराकार, देह का अहंकार उनको हो न सके। तुम भी निरहंकारी बनो। आप मरे, मर गई दुनिया। हमको अब बाबा पास जाना है। इस कब्रिस्तान को क्या याद करना है। अपने से ऐसी-ऐसी बातें करते रहेंगे तब खुशी का पारा चढ़ेगा और सदैव प्रफुल्लित रहेंगे।

हम बाबा के साथ यात्रा पर हैं। बाबा लेने के लिए आया है। ऐसा न हो माया कहीं कान काट दे। फिर सुनते हुए भी धारणा नहीं होगी। खुशी का पारा नहीं चढ़ेगा। बहुतों को दान करेंगे तो बहुतों की आशीर्वाद मिलेगी। ज्ञान मार्ग में सबसे बहुत मीठा रहना है। लून-पानी नहीं बनना है। विकारी सम्बन्ध से और दैवी सम्बन्ध से तोड़ निभाना है। दोनों तरफ से स्नेही बनना है। बाप भी अपने सपूत बच्चों को देख खुश होते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अभी हम यात्रा पर हैं, इसलिए बहुत सम्भलकर चलना है। पवित्र जरूर रहना है।

2) बाप समान निरहंकारी बनना है। हमको बाबा पास जाना है इसलिए सबसे ममत्व निकाल देना है। अपने आपसे बातें कर प्रफुल्लित रहना है।

वरदान:- दु:ख के चक्करों से सदा मुक्त रहने और सबको मुक्त करने वाले स्वदर्शन चक्रधारी भव
जो बच्चे कर्मेन्द्रियों के वश होकर कहते हैं कि आज आंख ने, मुख ने वा दृष्टि ने धोखा दे दिया, तो धोखा खाना अर्थात् दु:ख की अनुभूति होना। दुनिया वाले कहते हैं – चाहते नहीं थे लेकिन चक्कर में आ गये। लेकिन जो स्वदर्शन चक्रधारी बच्चे हैं वह कभी किसी धोखे के चक्कर में नहीं आ सकते। वह तो दु:ख के चक्करों से मुक्त रहने और सबको मुक्त करने वाले, मालिक बन सर्व कर्मेन्द्रियों से कर्म कराने वाले हैं।
स्लोगन:- अकाल तख्तनशीन बन अपनी श्रेष्ठ शान में रहो तो कभी परेशान नहीं होंगे।
Font Resize