16 February ki murli

TODAY MURLI 16 FEBRUARY 2021 DAILY MURLI (English)

16/02/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have each tied the thread of your life to the one Father. Your connection is with the One. Fulfil your responsibility to One.
Question: Each of you souls ties your thread of life to the Supreme Soul at the confluence age. In which way has this continued as a system on the path of ignorance?
Answer: The loose end of the bride’s sari is tied to the groom’s sash at their wedding. The wife then understands that she has to be his companion for life. You have now tied the end of your sari to the Father. You understand that you will be sustained by the Father for half the cycle.
Song: I have tied the thread of my life to You. Audio Player

Om shanti. Look, in the song it says: I have tied the thread of my life to You. A girl ties the thread of her life to her husband and she understands that she has to spend her life as his companion and that he has to look after her. It isn’t that the wife has to look after him; no, he has to look after her for life. You children have also tied the threads of your lives. Whether you call Him the unlimited Father, the Teacher or the Guru, the thread of life of souls has to be tied to the Supreme Soul. Theirs is a limited, physical aspect, whereas this is a subtle aspect. A bride ties the thread of her life to her husband and then she goes to his home. You need to have an intellect to understand everything. All the things in the iron age are devilish dictates. You know that you have tied the thread of your life to the One. Your connection is with the One. You have to fulfil your responsibility to the One because you receive a lot of happiness from Him. He makes us into the masters of heaven. Therefore, you should follow the directions of such a Father. This is a spiritual thread. It is spirits that take shrimat. You have fallen down by following devilish dictates. You now have to follow the shrimat of the spiritual Father. You souls understand that you are tying the threads of your lives to the Supreme Soul. We receive the inheritance of constant happiness for 21 births from Him. By tying that temporary thread of life, you have continued to come down, whereas this is a guarantee for 21 births. Your income is very great. You shouldn’t become careless about this. Maya makes you very careless. It must definitely have been due to Lakshmi and Narayan tying the threads of their lives to the One that they received that inheritance for 21 births. The thread of this life of each of you souls is tied to the Supreme Soul every cycle, countless times. It is in your intellects that you now belong to Shiv Baba and that you have tied the thread of your lives to Him. The Father sits here and explains everything to you. You understand that you also tied it to Him in the previous cycle. People celebrate Shiv Jayanti, but they don’t understand whose birthday it is they are celebrating. Shiv Baba, who is the Purifier, would definitely come at the confluence age. Only you understand this; the world doesn’t understand it. This is why it is remembered that there are just a handful out of multimillions. The original, eternal deity religion has disappeared and all the scriptures and stories remain. Since this religion doesn’t exist, how could they know about it? You are now tying the thread of your life. The threads of souls are tied to the Supreme Soul. It is not a question of anything to do with your bodies. You may remain living at home, but simply remember Him with your intellects. The threads of you souls are tied to Him. They tie the loose end of a bride’s sari. That is physical. Here, you souls have yoga with the Supreme Soul. People celebrate the birthday of Shiva in Bharat, but no one knows when He came. They don’t know when it was the birthday of Krishna or when it was the birthday of Rama. You children write the words “Trimurti Shiv Jayanti”. However, the Trimurti doesn’t exist at this time. You say that Shiv Baba creates the world through Brahma. Therefore, Brahma definitely has to exist in the corporeal form. You speak of the Trimurti, but where are Vishnu and Shankar at this time? These matters have to be understood very clearly. The Trimurti means Brahma, Vishnu and Shankar. Establishment through Brahma takes place at this time. Sustenance will take place through Vishnu in the golden age. The task of destruction will take place at the end. There is just the one religion of Bharat: the original, eternal deity religion. All the others come to establish their religions. Everyone knows when those particular religions were established and what the periods of those religion were. Such-and-such a religion was established at such-and-such a time. No one understands anything about Bharat. No one knows when it was the birthday of the Gita or the birthday of Shiva. There would have been a difference of two or three years between the ages of Krishna and Radhe. Krishna would have been born first in the golden age and Radhe came later, but no one understands when the golden age existed. You too have taken many years to understand this. How much would someone understand in just two or three days? The Father explains everything to you very easily. He is the unlimited Father. Everyone should definitely receive the inheritance from Him. People say: “O God, the Father!” and remember Him. There is the temple to // of Lakshmi and Narayan. They used to rule in heaven, but who gave them their inheritance? It must surely have been the Creator of heaven who gave them that but no one understands when or how He gave it. You understand that when it was the golden age there were no other religions. When we are in the golden age we are pure. In the iron age, we are impure. Therefore, He must have given knowledge at the confluence age, not in the golden age. There, there is just the reward. So, He must have given them knowledge in their previous birth. You too are now receiving it. You understand that only the Father establishes the original, eternal deity religion. Krishna existed in the golden age. From where did he receive his reward? No one knows that Lakshmi and Narayan were Radhe and Krishna. The Father says: Those who understood this in the previous cycle will understand it now. The sapling is being planted. We are planting the saplingof the most sweet tree. You know that the Father came 5000 years ago and made humans into deities. You are now being transferred. You first have to become Brahmins. When they do a somersault, the topknot definitely appears again. We have now become Brahmins. Brahmins are definitely needed for a sacrificial fire. This is the sacrificial fire of Shiva or Rudra. It is said: The sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Krishna did not create a sacrificial fire. The flames of destruction emerge from this sacrificial fire of the knowledge of Rudra. This sacrificial fire of Shiv Baba is to purify the impure. Rudra Shiv Baba is incorporeal. So, how could He create a sacrificial fire unless He entered a human body? Only human beings create sacrificial fires. These things neither exist in the subtle region nor in the incorporeal world. The Father explains: This is the confluence age. When the kingdom of Lakshmi and Narayan existed, it was the golden age. You are now becoming that once again. The thread of life of each of you souls is tied to the Supreme Soul. Why is this thread tied? To claim the inheritance of constant happiness. You understand that you are being made into Lakshmi and Narayan by the unlimited Father. The Father has explained that you belonged to the deity religion. That was your kingdom. Then you took rebirth and came into the warrior religion; the sun dynasty disappeared and the moon dynasty came. You understand how you went around this cycle and how many births you have taken. God speaks: O children, you do not know your own births. I know about them. Now, at this time, there are only two images in this body. There is the Brahma soul and the Supreme Soul, Shiv. These two images are combined, Brahma and Shiva. Shankar never comes to play a part and Vishnu exists in the golden age. You are now Brahmins and you then become deities. In fact, this is the meaning of “Hum so, so hum”. They have said that a soul is the Supreme Soul and that the Supreme Soul is a soul. There is so much difference! Ravan’s dictates begin as soon as he comes. This knowledge will have disappeared when it is the golden age. All of this is predestined to happen in the drama. Only then can the Father come and carry out establishment. It is now the confluence age. The Father says: I come at the confluence age of every cycle to change you from humans into deities. I create the sacrificial fire of knowledge. Everything is to be sacrificed into this sacrificial fire. The flames of destruction have to emerge from this sacrificial fire. The impure world has to be destroyed. How else would the pure world be created? You even say: O Purifier, come! So, would the impure world and the pure world exist at the same time? The impure world will be destroyed. You should be happy about this. It was through the Mahabharat War that the gates to heaven opened. It is said that this is that same Mahabharat War. This is good because the impure world will be destroyed. What is the need for them to beat their heads for peace? No one else has the third eye that you have each received. You children should be happy that you are claiming your inheritance from the unlimited Father once again. Baba, I have claimed my inheritance from You many times. Ravan then cursed you. It is easy to remember these things. All the rest are tall stories. You were made so wealthy. So, how did you become poor? All of this is predestined in the drama. It is said: Knowledge, devotion and disinterest. Only when you receive knowledge can there be disinterest in devotion. You have received knowledge and this is why you are disinterested in devotion. You are disinterested in the whole of the old world. This is a graveyard. You have been around the cycle of 84 births and you now have to return home. Remember Me and you will come to Me and your sins will be absolved; there is no other way. Sins are burnt away in the fire of yoga, not by bathing in the Ganges. Baba says: Maya has made you into fools. They speak of April fools. I have now come to make you become like Lakshmi and Narayan. The picture of what we are today and what we will become tomorrow is very good. Maya is no less! Maya doesn’t allow you to tie your thread and there is a tug of war. We try to remember Baba, but then we don’t know what happens; we forget. This requires effort. This is why the ancient yoga of Bharat is very well known. Who gave them their inheritance? No one understands this. The Father says: Children, I have come once again to give you your inheritance. This is the Father’s task. At this time, all are residents of hell. You are becoming happy. When someone comes here and understands this, he becomes happy; he feels that this is right. There is the account of 84 births. You have to claim your inheritance from the Father. The Father understands that you have become tired by performing devotion for half the cycle. Sweet children, the Father will remove all your tiredness. Devotion, the path of darkness, is now coming to an end. There is such a difference between this land of sorrow and the land of happiness. I come at the confluence age of the cycle to change the land of sorrow into the land of happiness. You have to give the Father’s introduction. The Father will give you your unlimited inheritance. The praise only belongs to the One. If it weren’t for Shiv Baba, who would purify you? All of this is fixed in the drama. You call out to Me every cycle. O Purifier, come! People celebrate Shiv Jayanti. They say that Brahma established heaven. Then, what did Shiva do that people celebrate Shiv Jayanti? They don’t understand anything at all. This knowledge should sit firmly in your intellects. You have tied your threads to the One. Therefore, don’t tie them to anyone else; otherwise you will fall. The Father from beyond is most simple; He doesn’t have any external splendour. Other fathers tour around in cars and planes. That unlimited Father says: I have come into the impure world and into an impure body in order to serve you children. You called out: O eternal Surgeon, come! Come and give us an injection! You are now being given an injection. The Father says: Have yoga and your sins will be burnt away. The Father is the Remover of the Sorrow of 63 births and the Bestower of Happiness for 21 births. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Tie the spiritual thread of your intellect to the one Father. Follow the shrimat of the One.
  2. We are planting the sapling of the most sweet tree. Therefore, we first have to make ourselves very sweet. Remain engaged on the pilgrimage of remembrance and have your sins absolved.
Blessing: May you use all your treasures for world benefit and become an embodiment of success.
You use a lot of time on your limited household and your limited nature and sanskars. However, you have to stay beyond your own household and keep a balance of your thoughts, words, actions, relationships and connections and you will then have greater splendour through less expenditure with the economy of all these treasures. Now, become one who has greater success through less expenditure by using the treasure of your time, the treasure of your energy and your physical treasures. Instead of using them on yourself, use them for world benefit and you will become an embodiment of success.
Slogan: Remain constantly absorbed in the love of One and you will become free from obstacles.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 16 FEBRUARY 2021 : AAJ KI MURLI

16-02-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुमने अपनी जीवन डोर एक बाप से बांधी है, तुम्हारा कनेक्शन एक से है, एक से ही तोड़ निभाना है”
प्रश्नः- संगमयुग पर आत्मा अपनी डोर परमात्मा के साथ जोड़ती है, इसकी रस्म अज्ञान में किस रीति से चलती आ रही है?
उत्तर:- शादी के समय स्त्री का पल्लव पति के साथ बांधते हैं। स्त्री समझती है जीवन भर उनका ही साथी होकर रहना है। तुमने तो अब अपना पल्लव बाप के साथ जोड़ा है। तुम जानते हो हमारी परवरिश आधाकल्प के लिए बाप द्वारा होगी।
गीत:- जीवन डोर तुम्हीं संग बांधी…….. 

ओम् शान्ति। देखो, गीत में कहते हैं जीवन डोर तुम से बांधी। जैसे कोई कन्या है, वह अपनी जीवन की डोर पति के साथ बांधती है। समझती है कि जीवन भर उनका ही साथी होकर रहना है। उनको ही परवरिश करनी है। ऐसे नहीं कि कन्या को उनकी परवरिश करनी है। नहीं, जीवन तक उनको परवरिश करनी है। तुम बच्चों ने भी जीवन डोर बांधी है। बेहद का बाप कहो, टीचर कहो, गुरू कहो जो कहो…….. यह आत्माओं की जीवन की डोर परमात्मा के साथ बांधने की है। वह है हद की स्थूल बात, यह है सूक्ष्म बात। कन्या के जीवन की डोर पति के साथ बांधी जाती है। वह उनके घर जाती है। देखो, हर एक बात समझने की बुद्धि चाहिए। कलियुग में हैं सब आसुरी मत की बातें। तुम जानते हो हमने जीवन की डोर एक से बांधी है। तुम्हारा कनेक्शन एक से है। एक से ही तोड़ निभाना है क्योंकि उनसे हमको बहुत अच्छा सुख मिलता है। वह तो हमको स्वर्ग का मालिक बनाता है। तो ऐसे बाप की श्रीमत पर चलना चाहिए। यह है रूहानी डोर। रूह ही श्रीमत लेती है। आसुरी मत लेने से तो नीचे गिरे हैं। अब रूहानी बाप की श्रीमत पर चलना चाहिए।

तुम जानते हो हम अपनी आत्मा की डोर परमात्मा के साथ बांधते हैं, तो हमें उनसे 21 जन्म सदा सुख का वर्सा मिलता है। उस अल्पकाल की जीवन डोर से तो नीचे गिरते आये हैं। यह 21 जन्मों के लिए गैरन्टी है। तुम्हारी कमाई कितनी जबरदस्त है, इसमें ग़फलत नहीं करनी चाहिए। माया ग़फलत बहुत कराती है। इन लक्ष्मी-नारायण ने जरूर कोई से जीवन डोर बांधी जिससे 21 जन्म का वर्सा मिला। तुम आत्माओं की परमात्मा से जीवन डोर बांधी जाती है, कल्प-कल्प। उनकी तो गिनती नहीं। बुद्धि में बैठता है – हम शिवबाबा के बने हैं, उनसे जीवन डोर बांधी है। हर एक बात बाप बैठ समझाते हैं। तुम जानते हो कल्प पहले भी बांधी थी। अब शिव जयन्ती मनाते हैं परन्तु किसकी मनाते हैं, पता नहीं है। शिवबाबा जो पतित-पावन है वह जरूर संगम पर ही आयेगा। यह तुम जानते हो, दुनिया नहीं जानती है इसलिए गाया हुआ है कोटों में कोऊ। आदि सनातन देवी-देवता धर्म प्राय:लोप हो गया है और सब शास्त्र कहानियां आदि हैं। यह धर्म है ही नहीं तो जाने कैसे। अभी तुम जीवन की डोर बांध रहे हो। आत्माओं की परमात्मा के साथ डोर जुटी हुई है, इसमें शरीर की कोई बात नहीं है। भल घर में बैठे रहो, बुद्धि से याद करना है। तुम आत्माओं की जीवन डोर बांधी हुई है। पल्लव बांधते हैं ना। वह स्थूल पल्लव, यह है आत्माओं का परमात्मा के साथ योग। भारत में शिव जयन्ती भी मनाते हैं परन्तु वह कब आये थे, यह किसको भी पता नहीं है। कृष्ण की जयन्ति कब, राम की जयन्ति कब है, यह नहीं जानते। बच्चे तुम त्रिमूर्ति शिव जयन्ती अक्षर लिखते हो परन्तु इस समय तीन मूर्तियां तो हैं नहीं। तुम कहेंगे शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा सृष्टि रचते हैं तो ब्रह्मा साकार में जरूर चाहिए ना। बाकी विष्णु और शंकर इस समय कहाँ हैं, जो तुम त्रिमूर्ति कहते हो। यह बहुत समझने की बातें हैं। त्रिमूर्ति का अर्थ ही ब्रह्मा-विष्णु-शंकर है। ब्रह्मा द्वारा स्थापना वह तो इस समय होती है। विष्णु द्वारा सतयुग में पालना होगी। विनाश का कार्य अन्त में होना है। यह आदि सनातन देवी-देवता धर्म भारत का एक ही है। वह तो सब आते हैं धर्म स्थापन करने। हर एक जानता है यह धर्म स्थापन किया और उनका संवत यह है। फलाने टाइम, फलाना धर्म स्थापन किया। भारत का किसको पता नहीं है। गीता जयन्ती, शिव जयन्ती कब हुई, किसको पता नहीं है। कृष्ण और राधे की आयु में 2-3 वर्ष का फ़र्क होगा। सतयुग में जरूर पहले कृष्ण ने जन्म लिया होगा फिर राधे ने। परन्तु सतयुग कब था, यह किसको पता नहीं है। तुमको भी समझने में बहुत वर्ष लगे हैं, तो दो दिन में कोई कहाँ तक समझेंगे। बाप तो बहुत सहज बताते हैं, वह है बेहद का बाप, जरूर उनसे सबको वर्सा मिलना चाहिए ना। ओ गॉड फादर कह याद करते हैं। लक्ष्मी-नारायण का मन्दिर है। यह स्वर्ग में राज्य करते थे परन्तु उनको यह वर्सा किसने दिया? जरूर स्वर्ग के रचयिता ने दिया होगा। परन्तु कब कैसे दिया, वह कोई नहीं जानते हैं। तुम बच्चे जानते हो जब सतयुग था और कोई धर्म नहीं था। सतयुग में हम पवित्र थे, कलियुग में हम पतित हैं। तो संगम पर ज्ञान दिया होगा, सतयुग में नहीं। वहाँ तो प्रालब्ध है। जरूर अगले जन्म में ज्ञान लिया होगा। तुम भी अब ले रहे हो। तुम जानते हो आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना बाप ही करेगा। कृष्ण तो सतयुग में था, उसको यह प्रालब्ध कहाँ से मिली? लक्ष्मी-नारायण ही राधे-कृष्ण थे, यह कोई नहीं जानते हैं। बाप कहते हैं जिन्होंने कल्प पहले समझा था वही समझेंगे। यह सैपलिंग लगता है। मोस्ट स्वीटेस्ट झाड़ का कलम लगता है। तुम जानते हो आज से 5 हज़ार वर्ष पहले भी बाप ने आकर मनुष्य से देवता बनाया था। अभी तुम ट्रांसफर हो रहे हो। पहले ब्राह्मण बनना है। बाजोली खेलते हैं तो चोटी जरूर आयेगी। बरोबर हम अभी ब्राह्मण बने हैं। यज्ञ में तो जरूर ब्राह्मण चाहिए। यह शिव वा रूद्र का यज्ञ है। रूद्र ज्ञान यज्ञ ही कहा जाता है। कृष्ण ने यज्ञ नहीं रचा। इस रूद्र ज्ञान यज्ञ से विनाश ज्वाला प्रज्जवलित होती है। यह शिवबाबा का यज्ञ पतितों को पावन बनाने के लिए है। रूद्र शिवबाबा निराकार है, वह यज्ञ कैसे रचे। जब तक मनुष्य तन में न आये। मनुष्य ही यज्ञ रचते हैं। सूक्ष्म वा मूल वतन में यह बातें नहीं होती। बाप समझाते हैं यह संगमयुग है। जब लक्ष्मी-नारायण का राज्य था तो सतयुग था। अब फिर तुम यह बन रहे हो। यह जीवन की डोर आत्माओं की परमात्मा के साथ है। यह डोर क्यों बांधी है? सदा सुख का वर्सा पाने के लिए। तुम जानते हो बेहद के बाप द्वारा हम यह लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। बाप ने समझाया है तुम सो देवी-देवता धर्म के थे। तुम्हारा राज्य था। पीछे तुम पुनर्जन्म लेते-लेते क्षत्रिय धर्म में आये। सूर्यवंशी राजाई चली गई फिर चन्द्रवंशी आये। तुमको मालूम है हम यह चक्र कैसे लगाते हैं। इतने-इतने जन्म लिए। भगवानुवाच – हे बच्चे, तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो, मैं जानता हूँ। अब इस समय इस तन में दो मूर्ति हैं। ब्रह्मा की आत्मा और शिव परम आत्मा। इस समय दो मूर्ति इकट्ठी हैं – ब्रह्मा और शिव। शंकर तो कभी पार्ट में आता नहीं। बाकी विष्णु सतयुग में है। अभी तुम ब्राह्मण सो देवता बनेंगे। हम सो का अर्थ वास्तव में यह है। उन्होंने कह दिया है – आत्मा सो परमात्मा। परमात्मा सो आत्मा। कितना फ़र्क है। रावण के आने से ही रावण की मत शुरू हो गई। सतयुग में तो यह ज्ञान ही प्राय:लोप हो जायेगा। यह सब होना ड्रामा में नूँध है ना तब तो बाप आकर स्थापना करे। अभी है संगम। बाप कहते हैं मैं कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुग पर आकर तुमको मनुष्य से देवता बनाता हूँ। ज्ञान यज्ञ रचता हूँ। बाकी जो हैं वह इस यज्ञ में स्वाहा हो जाने हैं। यह विनाश ज्वाला इस यज्ञ से प्रज्जवलित होनी है। पतित दुनिया का तो विनाश होना है। नहीं तो पावन दुनिया कैसे हो। तुम कहते भी हो हे पतित-पावन आओ तो पतित दुनिया पावन दुनिया इकट्ठी रहेगी क्या? पतित दुनिया का विनाश होगा, इसमें तो खुश होना चाहिए। महाभारत की लड़ाई लगी थी, जिससे स्वर्ग के गेट खुले। कहते हैं यह वही महाभारत लड़ाई है। यह तो अच्छा है, पतित दुनिया खत्म हो जायेगी। पीस के लिए माथा मारने की दरकार क्या है। तुमको जो अब तीसरा नेत्र मिला है वह कोई को नहीं है। तुम बच्चों को खुश होना चाहिए – हम बेहद के बाप से फिर से वर्सा ले रहे हैं। बाबा हमने अनेक बार आपसे वर्सा लिया है। रावण ने फिर श्राप दिया। यह बातें याद करना सहज है। बाकी सब दन्त कथायें हैं। तुमको इतना साहूकार बनाया फिर गरीब क्यों बनें? यह सब ड्रामा में नूँध है। गाया भी जाता है ज्ञान, भक्ति, वैराग्य। भक्ति से वैराग्य तब हो जब ज्ञान मिले। तुमको ज्ञान मिला तब भक्ति से वैराग्य हुआ। सारी पुरानी दुनिया से वैराग्य। यह तो कब्रिस्तान है। 84 जन्म का चक्र लगाया है। अभी घर चलना है। मुझे याद करो तो मेरे पास चले आयेंगे। विकर्म विनाश हो जायेंगे और कोई उपाय नहीं। योग अग्नि से पाप भस्म होंगे। गंगा स्नान से नहीं होंगे।

बाबा कहते हैं माया ने तुमको फूल (मूर्ख) बना दिया है, अप्रैल फूल कहते हैं ना। अभी मैं तुमको लक्ष्मी-नारायण जैसा बनाने आया हूँ। चित्र तो बहुत अच्छे हैं – आज हम क्या हैं, कल हम क्या होंगे? परन्तु माया कम नहीं। माया डोर बांधने नहीं देती। खींचातान होती है। हम बाबा को याद करते हैं फिर पता नहीं क्या होता है? भूल जाते हैं। इसमें मेहनत है इसलिए भारत का प्राचीन योग मशहूर है। उन्हों को वर्सा किसने दिया, यह कोई समझते नहीं हैं। बाप कहते हैं बच्चों, मैं तुमको फिर से वर्सा देने आया हूँ। यह तो बाप का काम है। इस समय सब नर्कवासी हैं। तुम खुश हो रहे हो। यहाँ कोई आते हैं समझते हैं तो खुशी होती है, बरोबर ठीक है। 84 जन्मों का हिसाब है। बाप से वर्सा लेना है। बाप जानते हैं आधाकल्प भक्ति करके तुम थक गये हो। मीठे बच्चे – बाप तुम्हारी सब थक दूर करेंगे। अब भक्ति अन्धियारा मार्ग पूरा होता है। कहाँ यह दु:खधाम, कहाँ वह सुखधाम। मैं दु:खधाम को सुखधाम बनाने कल्प के संगम पर आता हूँ। बाप का परिचय देना है। बाप बेहद का वर्सा देने वाला है। एक की ही महिमा है। शिवबाबा नहीं होता तो तुमको पावन कौन बनाता। ड्रामा में सारी नूँध है। कल्प-कल्प तुम मुझे पुकारते हो कि हे पतित-पावन आओ। शिव की जयन्ती है। कहते हैं ब्रह्मा ने स्वर्ग की स्थापना की, फिर शिव ने क्या किया जो शिव जयन्ती मनाते हैं। कुछ भी समझते नहीं हैं। तुम्हारी बुद्धि में ज्ञान एकदम बैठ जाना चाहिए। डोर एक के साथ बांधी है तो फिर और कोई के साथ नहीं बांधो। नहीं तो गिर पड़ेंगे। परलौकिक बाप मोस्ट सिम्पल हैं। कोई ठाठ-बाठ नहीं। वह बाप तो मोटरों में, एरोप्लेन में घूमते हैं। यह बेहद का बाप कहते हैं मैं पतित दुनिया, पतित शरीर में बच्चों की सेवा के लिए आया हूँ। तुमने बुलाया है हे अविनाशी सर्जन आओ, आकर हमें इन्जेक्शन लगाओ। इन्जेक्शन लग रहा है। बाप कहते हैं योग लगाओ तो तुम्हारे पाप भस्म होंगे। बाप है ही 63 जन्मों का दु:ख हर्ता। 21 जन्मों का सुख कर्ता। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपने बुद्धि की रूहानी डोर एक बाप के साथ बांधनी है। एक की ही श्रीमत पर चलना है।

2) हम मोस्ट स्वीटेस्ट झाड़ का कलम लगा रहे हैं इसलिए पहले स्वयं को बहुत-बहुत स्वीट बनाना है। याद की यात्रा में तत्पर रह विकर्म विनाश करने हैं।

वरदान:- सर्व खजानों को विश्व कल्याण प्रति यूज़ करने वाले सिद्धि स्वरूप भव
जैसे अपने हद की प्रवृत्ति में, अपने हद के स्वभाव-संस्कारों की प्रवृत्ति में बहुत समय लगा देते हो, लेकिन अपनी-अपनी प्रवृत्ति से परे अर्थात् उपराम रहो और हर संकल्प, बोल, कर्म और सम्बन्ध-सम्पर्क में बैलेन्स रखो तो सर्व खजानों की इकॉनामी द्वारा कम खर्च बाला नशीन बन जायेंगे। अभी समय रूपी खजाना, एनर्जी का खजाना और स्थूल खजाने में कम खर्च बाला नशीन बनो, इन्हें स्वयं के बजाए विश्व कल्याण प्रति यूज़ करो तो सिद्धि स्वरूप बन जायेंगे।
स्लोगन:- एक की लगन में सदा मगन रहो तो निर्विघ्न बन जायेंगे।

TODAY MURLI 16 FEBRUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 16 February 2020

16/02/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
25/11/85

Signs of victorious jewels whose intellectshave faith.

Today, BapDada is seeing His rosary of the victorious jewels whose intellects have faith. Each child believes himself or herself to have firm faith. Scarcely any of you would not believe this. If you ask anyone if his intellect has faith, his response would be, “How could I be a Brahma Kumar or Kumari if I didn’t have faith?” In response to the question of faith, you would all say, “Yes, I have faith.” We could say that the intellect of everyone sitting here has faith, could we not? Or, those who feel that they are still developing faith, raise your hands! All of your intellects have faith. OK, if all of you have firm faith, why is there then a number in the rosary of victory? In terms of faith, everyone has the same answer. Then, why is there a number? There is a difference in being one of the eight, one of the 100 and one of the 16,000. What is the reason for this? There is so much difference in the praise and worship of the eight special deities and the rosary of 16,000. You have the faith that the Father is the same and that all of you belong to the One. Then, why is there this difference? Can there be a percentage in your intellects having faith? If there is a percentage in your faith, would that be called faith? You would say that the intellects of the eight jewels have faith and the intellects of the 16,000 also have faith, would you not?

The sign of your intellect having faith is victory. This is why there is the praise: those whose intellects have faith are victorious. So, to have faith means that you are victorious. It is not possible for you to have victory at some times and not at other times. No matter what the circumstances are, the children whose intellects have faith would always experience victory over the circumstances on the basis of the power of their own stage. Those who have become victorious jewels, that is, those who have become beads of the rosary of victory and the garland around the neck can never be defeated by Maya. Even if people of the world and those in connection or a relationship with the Brahmin family believe and say of someone that they have been defeated, that defeat is not defeat. This is because sometimes those who observe or do something have a misunderstanding. Souls who are humble, who are constructive and who always say “Ha ji” can sometimes, due to a misunderstanding, appear to be defeated and others would see that as defeat, when, in reality, it is their victory. However, at that time, because of the opinion of others or because of the atmosphere, you yourself must not change from having faith in your intellect and to start having doubts. “I don’t know whether this is victory or defeat.” Do not have these doubts but keep your faith firm. Then, whatever others are today calling defeat, they will tomorrow offer you flowers of “Wah, wah!”

Victorious souls will never have any confusion in their minds about the actions they themselves carry out – as to whether they are right or wrong. The opinion of others is something else. Some people would say that you are right and others would say that you are wrong, but you must have the firm faith in your mind that you are victorious. Along with having faith in the Father, you also need to have faith in yourself. This is because the mind, that is, the power of thought, of a soul whose intellect has faith, that is, one who is victorious, is always clean. The decision as to whether it is “Yes” or “No” for something for the self or for others will be made very easily, it will be truthful and clear. This is why there will be no confusion of “I don’t know…” The sign of victorious jewels whose intellects have faith that, because of making a truthful decision, they would not have the slightest confusion in their minds, they would always be in pleasure. There would be waves of happiness. Even if the circumstances are like fire, for such a soul, that test of fire would give that soul the happiness of victory, because he will be victorious in the test. Even now, when someone has victory about something in a worldly way, they celebrate that in happiness. They laugh, dance and applaud. That is a sign of happiness. Someone whose intellect has faith will never experience himself to be alone in any task. Even if everyone is on one side and he is alone on the other side – even if the majority is on the other side and the victorious jewel is alone, – he doesn’t consider himself to be alone but considers the Father to be with him and this is why an unlimited army is nothing in front of the Father. Where the Father is, the whole world is in the Father. A seed has the whole tree within it. A victorious soul whose intellect has faith would always consider himself to have some support. He has the natural experience of the Bestower who gives support being with him. It isn’t that he would go in front of the Father when a problem arises and say, “Baba, You are with me, are You not? You are my Helper, are You not? Now, I have You alone.” He would not take selfish support. “You are with me, are You not? You are this, are You not?” What does all of that mean? Is that faith? You are then reminding the Father that He is your Support. One whose intellect has faith can never have such thoughts. He would not have the slightest experience of thoughts such as being without support or of being alone. Because of being victorious due to his intellect having faith, he would constantly dance in happiness. He would never be caught up in waves of being upset or sad, or of having some temporary or limited disinterest. Sometimes, when there is a strong attack of Maya, there is also limited disinterest. However, that is limited temporary disinterest. It is not unlimited disinterest for all time. That is the attitude of disinterest arising out of compulsion. This is why, you say at that time, “It is better that I leave this. I have disinterest in it.” Let me leave service, let me leave this.” There is disinterest, but it is not unlimited. A victorious jewel will always experience victory in defeat and victory in victory. To have limited disinterest means to step aside. They use the term “disinterest” but, in fact, that is just stepping aside. So, a victorious jewel would never step away from any task, problem or person but, whilst carrying out every act, whilst facing everything and being co-operative, he would have an attitude of unlimited disinterest which will be for all time. A victorious jewel whose intellect has faith would never speak of his victory. He would never complain to others. “Did you see? I was right, was I not?” To complain in this way or to speak about this is a sign of being empty. Something empty rattles a lot. The fuller something is, the less it rattles. A victorious jewel will increase the courage of others. He would not try to put someone down because a victorious jewel is a master bestower of support, the same as the Father. He is one who uplifts those who have fallen down. Someone whose intellect has faith always remains distant from any waste, whether they are waste thoughts, words or actions. To step away from waste means to be victorious. It is because of waste that there is sometimes victory and sometimes defeat. If waste has ended, then defeat has ended. To finish all waste is a sign of being a victorious jewel. So, now check: Do I experience the signs of being a victorious jewel whose intellect has faith? You all said that your intellects have faith. You speak the truth. However, it is one thing for your intellect to have faith to the extent of knowing and accepting; it is another thing to live by that. All of you believe that you have found God and that you now belong to God. To know and accept is the same thing. However, you become numberwise in living by it. So, you are all fine when it comes to knowing and accepting, but then the third stage is of knowing, accepting and then living by it. Let the practical signs of having faith and victory be visible in every action. There is a difference in this and this is why you become numberwise. Do you understand why numbers are created?

This is called being a conqueror of attachment. The definition of being a conqueror of attachment is very deep. Baba will tell you about that at some other time. For your intellect to have faith is a step on the ladder of being a conqueror of attachment. Achcha, today, the second group has come. The children of a home are the masters of it and so the masters of the home have come home. This is what you would say, is it not? Have you come to your home? Or, have you come from your home? If you consider that to be your home, there would be attachment. However, that is a temporary service place. Everyone’s home is Madhuban. In terms of being souls, the home is the supreme abode and in terms of being Brahmins, your home is Madhuban. Since you say that your Head Office is at Mt. Abu, then what is the place where you stay? That is an office, is it not? This is why you call this the Head Office. So you haven’t come from home but you have come home. Anyone can be made to change offices. No one can be thrown out of his home. Offices can be changed. If you consider this to be your home, there will be the feeling of it belonging to you. Only when you make a centre your home would there be a feeling of belonging. If you consider it to be a centre, there wouldn’t be the feeling of belonging. When it becomes your home and your resting place, there is then the feeling of belonging. So, you have come from home. There is a saying: Your home is the doorway to the Bestower. For which place is there this saying? The real doorway to the Bestower is your home of Madhuban, is it not? You have come home, that is, to the home of the Bestower. Call it the doorway or the home, it is the same thing. By coming home, you receive rest and comfort. Rest in the mind, rest in the body and rest in terms of wealth. You don’t have to go anywhere to earn money. You are able to take rest even from preparing food, for otherwise, you would have to prepare it yourself and only then be able to eat. You receive food ready-made on your plate. You become lords here. They ring the bell in the homes of the thakurs (deity idols, lords). In order to awaken a lord or to put him to sleep, they ring a bell. When they offer bhog, they ring the bell in the temple. Your bell is also rung, is it not? Nowadays, it is fashionable and so you have a record played instead. You go to sleep to a record and you wake up to a record, and so you are lords, are you not? Everything on the path of devotion is copied from here. Here too, bhog is offered three to four times a day. They start offering bhog to the living thakurs from 4.00 a.m. in the morning. Bhog begins at amrit vela. At that time, God serves you children in the living form. Everyone does God’s service, but here God Himself serves you. Whom does He serve? The living thakurs. This faith always makes you swing in happiness. Do you understand? All those from all the zones are especially loved. Whenever any zone comes, they are especially loved at that time. You are the beloveds but you must now become the especially beloved ones of the Father alone. Do not become those who are especially loved by Maya. You become especially beloved ones of Maya and you then play a lot of games. All of you who have come, you are the fortunate ones (bhagyavan) who have come to God (Bhagwan). Achcha.

To those who are constantly victorious jewels due to your intellects having faith, to the souls who are embodiments of the awareness of God and their fortune, to those who constantly experience victory in both victory and defeat, to the souls who are master bestowers of support and give support, that is, co-operation to others, to the elevated souls who constantly experience themselves to be with the Father, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Meeting groups:

1) Are all of you the elevated souls who are always lost in the love of One? You are not ordinary, are you? Whatever actions you elevated souls perform, they will always be elevated. Since your birth is elevated, how can your deeds be ordinary? When your birth changes, your karma changes. Your name, form, land and actions all change. So, you always have a new birth. You stay in the zeal and enthusiasm of the newness of the new birth. Those who only have this sometimes only receive a kingdom sometimes.

Souls who have become instruments receive the fruit of having become instruments, and souls who eat fruit are strong. This is instant fruit, the fruit of the elevated age. Those who eat the fruit of this age will always be powerful. Such powerful souls always gain victory easily over adverse situations. The situations would be down below and they would be up above. They portray Shri Krishna conquering a serpent. He placed his foot on the head of the serpent and danced on it. So, that is your memorial. No matter how poisonous the serpent is, you gain victory over it and dance on it. This elevated powerful awareness makes everyone powerful, and where there is power, all waste ends. You are with the Almighty Father. Constantly continue to move forward with the blessing of this awareness.

2) All of you are the immortal souls of the Immortal Father, are you not? You have become immortal, have you not? Even when you leave your bodies, you are immortal. Why? Because you go from here having created your fortune. You do not depart empty-handed. This is why that is not dying. That is departing full. To die means to depart empty-handed. To depart full means to change your costume. So you have become immortal, have you not? You have received the blessing of being immortal. You are not influenced by death in this. You know that you have to depart and then return. This is why you are immortal. By listening to the story of immortality you have become immortal. You listen to the story every day with a lot of love, do you not? The Father tells you the story of immortality and thereby gives you the blessing of being immortal. By always maintaining this happiness you become immortal, you become prosperous. You were empty and have become full. You have become full to such an extent that you cannot become empty for many births.

3) All of you are moving forward on the pilgrimage of remembrance, are you not? This spiritual pilgrimage will constantly give you experiences of happiness. Through this pilgrimage, all other pilgrimages are completed for all time. If you stay on the spiritual pilgrimage, then you have been on all other pilgrimages and there is no need to go on any other pilgrimage because this is the great pilgrimage. All other pilgrimages are included in the great pilgrimage. Previously, you used to wander around on pilgrimages, but with this spiritual pilgrimage, you have now found your destination. Your minds have now found the destination, and so your bodies too have found the destination. Through just the one pilgrimage, all the many types of wandering around ends. So, always maintain the awareness that you are spiritual pilgrims. By doing this, you will always remain beyond, detached and free from attachment. There won’t be any attachment to anyone. A pilgrim never has attachment to anyone. Let your stage be constantly like this.

At the time of farewell:

BapDada is pleased to see all the children of this land and abroad because all of you are co-operative children. BapDada always remembers the co-operative children as those who are seated on the heart-throne. All of you children whose intellects have faith are loved by the Father because all of you have become the garland around His neck. Achcha. All the children are making service grow very well. Achcha.

Blessing: May you be a soul who has the fortune of happiness and who moves along in the waves of the ocean of imperishable and alokik happiness from your true service.
The children who receive blessings for their service from BapDada and their senior instruments experience alokik and soul-conscious, inner happiness. While experiencing inner happiness, spiritual pleasure and unlimited attainments from their service, they continue to move along in the waves of the ocean of happiness. True service enables you to experience the elevated fortune of being fortunate through everyone’s love, everyone’s imperishable respect and blessings of happiness. Those who are constantly happy have the fortune of happiness.
Slogan: In order to be constantly cheerful and an image that attracts, be a jewel of contentment.

 

*** Om Shanti ***

Notice:

Today is the 3rd Sunday, a day for International Yoga. All brothers and sisters should collectively have yoga from 6.30 – 7.30 pm and have the pure thought: Rays of purity are emerging from myself, the soul, and purifying the whole world. I am a master purifier soul.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 16 FEBRUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 February 2020

16-02-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 25-11-85 मधुबन

निश्चय बुद्धि विजयी रत्नों की निशानियाँ

आज बापदादा अपने निश्चय बुद्धि विजयी रत्नों की माला को देख रहे थे। सभी बच्चे अपने को समझते हैं कि मैं निश्चय में पक्का हूँ। ऐसा कोई विरला होगा जो अपने को निश्चयबुद्धि नहीं मानता हो। किसी से भी पूछेंगे निश्चय है? तो यही कहेंगे कि निश्चय न होता तो ब्रह्माकुमार, ब्रह्माकुमारी कैसे बनते। निश्चय के प्रश्न पर सब हाँ कहते हैं। सभी निश्चयबुद्धि बैठे हैं, ऐसे कहेंगे ना? नहीं तो जो समझते हैं कि निश्चय हो रहा है, वह हाथ उठावें। सब निश्चयबुद्धि हैं। अच्छा जब सभी को पक्का निश्चय है फिर विजय माला में नम्बर क्यों है? निश्चय में सभी का एक ही उत्तर है ना! फिर नम्बर क्यों? कहाँ अष्ट रत्न, कहाँ 100 रत्न और कहाँ 16 हजार! इसका कारण क्या? अष्ट देव का पूजन गायन और 16 हजार की माला के गायन और पूजन में कितना अन्तर है? बाप एक है और एक के ही हैं, यह निश्चय है फिर अन्तर क्यों? निश्चयबुद्धि में परसेन्टेज होती है क्या? निश्चय में अगर परसेन्टेज हो तो उसको निश्चय कहेंगे? 8 रत्न भी निश्चय बुद्धि, 16 हजार वाले भी निश्चयबुद्धि कहेंगे ना!

निश्चयबुद्धि की निशानी विजय है इसलिए गायन है निश्चयबुद्धि विजयन्ती। तो निश्चय अर्थात् विजयी हैं ही हैं। कभी विजय हो, कभी न हो। यह हो नहीं सकता। सरकमस्टांस भले कैसे भी हों लेकिन निश्चय-बुद्धि बच्चे सरकमस्टांस में अपनी स्वस्थिति की शक्ति सदा विजय अनुभव करेंगे जो विजयी रत्न अर्थात् विजय माला का मणका बन गया, गले का हार बन गया उसकी माया से हार कभी हो नहीं सकती। चाहे दुनिया वाले लोग वा ब्राह्मण परिवार के सम्बन्ध सम्पर्क में दूसरा समझे वा कहे कि यह हार गया – लेकिन वह हार नहीं है, जीत है क्योंकि कहाँ-कहाँ देखने वा करने वालों की मिसअन्डरस्टैन्डिंग भी हो जाती है। नम्रचित, निर्माण वा हाँ जी का पाठ पढ़ने वाली आत्माओं के प्रति कभी मिसअन्डरस्टैन्डिग से उसकी हार हो सकती है, दूसरों को रूप हार का दिखाई देता है लेकिन वास्तविक विजय है। सिर्फ उस समय दूसरों के कहने वा वायुमण्डल में स्वयं निश्चयबुद्धि से बदल शक्य का रूप न बने। पता नहीं हार है या जीत है। यह शक्य न रख अपने निश्चय में पक्का रहे। तो जिसको आज दूसरे लोग हार कहते हैं, कल वाह! वाह! के पुष्प चढ़ायेंगे।

विजयी आत्मा को अपने मन में, अपने कर्म प्रति कभी दुविधा नहीं होगी। राइट हूँ वा रांग हूँ। दूसरे का कहना अलग चीज़ है। दूसरे कोई राइट कहेंगे कोई रांग कहेंगे लेकिन अपना मन निश्चयबुद्धि हो कि मैं विजयी हूँ। बाप में निश्चय के साथ-साथ स्वयं का भी निश्चय चाहिए। निश्चयबुद्धि अर्थात् विजयी का मन अर्थात् संकल्प शक्ति सदा स्वच्छ होने के कारण हाँ और ना का स्वयं प्रति वा दूसरों के प्रति निर्णय सहज और सत्य, स्पष्ट होगा इसलिए पता नहीं की दुविधा नहीं होगी। निश्चयबुद्धि विजयी रत्न की निशानी – सत्य निर्णय होने के कारण मन में जरा भी मूँझ नहीं होगी, सदैव मौज होगी। खुशी की लहर होगी। चाहे सरकमस्टांस आग के समान हो लेकिन उसके लिए वह अग्नि-परीक्षा विजय की खुशी अनुभव करायेगी क्योंकि परीक्षा में विजयी हो जायेंगे ना। अब भी लौकिक रीति किसी भी बात में विजय होती है तो खुशी मनाने के लिए हँसते नाचते ताली बजाते हैं। यह खुशी की निशानी है। निश्चयबुद्धि कभी भी किसी भी कार्य में अपने को अकेला अनुभव नहीं करेंगे। सभी एक तरफ हैं, मैं अकेला दूसरी तरफ हूँ, चाहे मैजॉरिटी दूसरे तरफ हों और विजयी रत्न सिर्फ एक हो फिर भी वह अपने को एक नहीं लेकिन बाप मेरे साथ है इसलिए बाप के आगे अक्षोणी भी कुछ नहीं है। जहाँ बाप है वहाँ सारा संसार बाप में है। बीज है तो झाड़ उसमें है ही। विजयी निश्चयबुद्धि आत्मा सदा अपने को सहारे के नीचे समझेंगे। सहारा देने वाला दाता मेरे साथ है, यह नैचुरल अनुभव करता है। ऐसे नहीं कि जब समस्या आवे उस समय बाप के आगे कहेंगे बाबा आप तो मेरे साथ हो ना। आप ही मददगार हो ना। बस अब आप ही हो। मतलब का सहारा नहीं लेंगे। आप हो ना, यह हो ना का अर्थ क्या हुआ? निश्चय हुआ? बाप को भी याद दिलाते हैं कि आप सहारा हो। निश्चयबुद्धि कभी भी ऐसा संकल्प नहीं कर सकते। उनके मन में जरा भी बेसहारे वा अकेलेपन का संकल्प मात्र भी अनुभव नहीं होगा। निश्चयबुद्धि विजयी होने के कारण सदा खुशी में नाचता रहेगा। कभी उदासी वा अल्पकाल का हद का वैराग्य, इसी लहर में भी नहीं आयेंगे। कई बार जब माया का तेज वार होता है, अल्पकाल का वैराग्य भी आता है लेकिन वह हद का अल्पकाल का वैराग्य होता है। बेहद का सदा का नहीं होता। मजबूरी से वैराग्य-वृत्ति उत्पन्न होती है इसलिए उस समय कह देते हैं कि इससे तो इसको छोड़ दें। मुझे वैराग्य आ गया है। सेवा भी छोड़ दें यह भी छोड़ दें। वैराग्य आता है लेकिन वह बेहद का नहीं होता। विजयी रत्न सदा हार में भी जीत, जीत में भी जीत अनुभव करेंगे। हद के वैराग्य को कहते हैं किनारा करना। नाम वैराग्य कहते लेकिन होता किनारा है। तो विजयी रत्न किसी कार्य से, समस्या से, व्यक्ति से किनारा नहीं करेंगे। लेकिन सब कर्म करते हए, सामना करते हुए, सहयोगी बनते हुए बेहद के वैराग्य-वृत्ति में होंगे। जो सदाकाल का है। निश्चयबुद्धि विजयी कभी अपने विजय का वर्णन नहीं करेंगे। दूसरे को उल्हना नहीं देंगे। देखा मैं राइट था ना। यह उल्हना देना या वर्णन करना, यह खालीपन की निशानी है। खाली चीज़ ज्यादा उछलती है ना। जितना भरपूर होंगे उतना उछलेंगे नहीं। विजयी सदा दूसरे की भी हिम्मत बढ़ायेगा। नीचा दिखाने की कोशिश नहीं करेगा क्योंकि विजयी रत्न बाप समान मास्टर सहारे दाता है। नीचे से ऊंचा उठाने वाला है। निश्चयबुद्धि व्यर्थ से सदा दूर रहता है। चाहे व्यर्थ संकल्प हो, बोल हो वा कर्म हो। व्यर्थ से किनारा अर्थात् विजयी है। व्यर्थ के कारण ही कभी हार, कभी जीत होती है। व्यर्थ समाप्त हो तो हार समाप्त। व्यर्थ समाप्त होना, यह विजयी रत्न की निशानी है। अब यह चेक करो कि निश्चयबुद्धि विजयी रत्न की निशानियाँ अनुभव होती हैं? सुनाया ना – निश्चयबुद्धि तो हैं, सच बोलते हैं। लेकिन निश्चय-बुद्धि एक हैं जानने तक, मानने तक और एक हैं चलने तक। मानते तो सभी हो कि हाँ भगवान मिल गया। भगवान के बन गये। मानना वा जानना, एक ही बात है। लेकिन चलने में नम्बरवार हो जाते। तो जानते भी हैं, मानते भी इसमें ठीक हैं लेकिन तीसरी स्टेज है मान कर, जानकर चलना। हर कदम में निश्चय की वा विजय की प्रत्यक्ष निशानियाँ दिखाई दें। इसमें अन्तर है इसलिए नम्बरवार बन गये। समझा – नम्बर क्यों बने हैं!

इसी को ही कहा जाता है नष्टोमोहा। नष्टोमोहा की परिभाषा बड़ी गुह्य है। वह फिर कब सुनायेंगे। निश्चयबुद्धि नष्टोमोहा की सीढ़ी है। अच्छा- आज दूसरा ग्रुप आया है। घर के बालक ही मालिक हैं तो घर के मालिक अपने घर में आये हैं, ऐसे कहेंगे ना। घर में आये हो, या घर से आये हो? अगर उसको घर समझेंगे तो ममत्व जायेगा। लेकिन वह टैप्रेरी सेवा स्थान है। घर तो सभी का मधुबन है ना। आत्मा के नाते परमधाम है। ब्राह्मण के नाते मधुबन है। जब कहते ही हो कि हेड आफिस माउण्ट आबू है तो जहाँ रहते हो वह क्या हुई? आफिस हुई ना, तब तो हेड आफिस कहते। तो घर से नहीं आये हो लेकिन घर में आये हो। आफिस से कभी भी किसको चेन्ज कर सकते हैं। घर से निकाल नहीं सकते। आफिस तो बदली कर सकते। घर समझेंगे तो मेरापन रहेगा। सेन्टर को भी घर बना देते तब मेरापन आता है। सेन्टर समझें तो मेरापन नहीं रहे। घर बन जाता, आराम का स्थान बन जाता तब मेरापन रहता है। तो अपने घर से आये हो। यह जो कहावत है – अपना घर दाता का दर। यह कौन से स्थान के लिए गायन है? वास्तविक दाता का दर अपना घर तो मधुबन है ना। अपने घर में अर्थात् दाता के घर में आये हो। घर अथवा दर कहो बात एक ही है। अपने घर में, आने से आराम मिलता है ना। मन का आराम। तन का भी आराम, धन का भी आराम। कमाने के लिए जाना थोड़ेही पड़ता। खाना बनाओ तब खाओ इससे भी आराम मिल जाता, थाली में बना बनाया भोजन मिलता है। यहाँ तो ठाकुर बन जाते हो। जैसे ठाकुरों के मंदिर में घण्टी बजाते हैं ना। ठाकुर को उठाना होगा, सुलाना होगा तो घण्टी बजाते। भोग लगायेंगे तो भी घण्टी बजायेंगे। आपकी भी घण्टी बजती है ना। आजकल फैशनबुल हैं तो रिकार्ड बजता है। रिकार्ड से सोते हो, फिर रिकार्ड से उठते हो तो ठाकुर हो गये ना। यहाँ का ही फिर भक्तिमार्ग में कॉपी करते हैं। यहाँ भी 3-4 बार भोग लगता है। चैतन्य ठाकुरों को 4 बजे से भोग लगाना शुरू हो जाता है। अमृतवेले से भोग शुरू होता। चैतन्य स्वरूप में भगवान सेवा कर रहा है बच्चों की। भगवान की सेवा तो सब करते हैं, लेकिन यहाँ भगवान सेवा करता। किसकी? चैतन्य ठाकुरों की। यह निश्चय सदा ही खुशी में झुलाता रहेगा। समझा – सभी ज़ोन लाडले हैं। जब जो ज़ोन आता है वह लाडला है। लाडले तो हो लेकिन सिर्फ बाप के लाडले बनो। माया के लाडले नहीं बन जाओ। माया के लाडले बनते हो तो फिर बहुत लाड कोड करते हो। जो भी आये हैं, भाग्यवान आये हो भगवान के पास। अच्छा!

सदा हर संकल्प में निश्चयबुद्धि विजयी रत्न सदा भगवान और भाग्य के स्मृति स्वरूप आत्माओं को, सदा हार और जीत दोनों में विजय अनुभव करने वालों को, सदा सहारा अर्थात् सहयोग देने वाले मास्टर सहारे दाता आत्माओं को, सदा स्वयं को बाप के साथ अनुभव करने वाली श्रेष्ठ आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

पार्टियों से अव्यक्त बापदादा की मुलाकात

1. सभी एक लगन में मगन रहने वाली श्रेष्ठ आत्मायें हो? साधारण तो नहीं। सदा श्रेष्ठ आत्मायें जो भी कर्म करेंगी वह श्रेष्ठ होगा। जब जन्म ही श्रेष्ठ है तो कर्म साधारण कैसे होगा। जब जन्म बदलता है तो कर्म भी बदलता है। नाम, रूप, देश, कर्म सब बदल जाता है। तो सदा नया जन्म, नये जन्म की नवीनता के उमंग-उत्साह में रहते हो। जो कभी-कभी रहने वाले हैं उन्हें राज्य भी कभी-कभी मिलेगा।

जो निमित्त बनी हुई आत्मायें हैं, उन्हें निमित्त बनने का फल मिलता रहता है। और फल खाने वाली आत्मायें शक्तिशाली होती हैं। यह प्रत्यक्षफल है, श्रेष्ठ युग का फल है। इसका फल खाने वाले सदा शक्तिशाली होंगे। ऐसी शक्तिशाली आत्मायें परिस्थितियों के ऊपर सहज ही विजय पा लेती हैं। परिस्थिति नीचे और वह ऊपर। जैसे श्रीकृष्ण के लिए दिखाते हैं कि उसने सांप को भी जीता। उसके सिर पर पांव रखकर नाचा। तो यह आपका चित्र है। कितने भी जहरीले साँप हों लेकिन आप उन पर भी विजय प्राप्त कर नाच करने वाले हो। यही श्रेष्ठ शक्तिशाली स्मृति सबको समर्थ बना देगी। और जहाँ समर्थता है वहाँ व्यर्थ समाप्त हो जाता है। समर्थ बाप के साथ हैं, इसी स्मृति के वरदान से सदा आगे बढ़ते चलो।

2. सभी अमर बाप की अमर आत्मायें हो ना। अमर हो गई ना? शरीर छोड़ते हो तो भी अमर हो, क्यों? क्योंकि भाग्य बना करके जाते हो। हाथ खाली नहीं जाते, इसलिए मरना नहीं है। भरपूर होकर जाना है। मरना अर्थात् हाथ खाली जाना। भरपूर होकर जाना माना चोला बदली करना। तो अमर हो गये ना। अमर भव का वरदान मिल गया, इसमें मृत्यु के वशीभूत नहीं होते। जानते हो जाना भी है फिर आना भी है, इसलिए अमर हैं। अमरकथा सुनते-सुनते अमर बन गये। रोज़-रोज़ प्यार से कथा सुनते हो ना। बाप अमरकथा सुनाकर अमरभव का वरदान दे देता है। बस सदा इसी खुशी में रहो कि अमर बन गये। मालामाल बन गये। खाली थे भरपूर हो गये। ऐसे भरपूर हो गये जो अनेक जन्म खाली नहीं हो सकते।

3. सभी याद की यात्रा में आगे बढ़ते जा रहे हो ना। यह रूहानी यात्रा सदा ही सुखदाई अनुभव करायेगी। इस यात्रा से सदा के लिए सर्व यात्रायें पूर्ण हो जाती हैं। रूहानी यात्रा की तो सभी यात्रायें हो गई और कोई यात्रा करने की आवश्यकता ही नहीं रहती क्योंकि महान यात्रा है ना। महान यात्रा में सब यात्रायें समाई हुई है। पहले यात्राओं में भटकते थे अभी इस रूहानी यात्रा से ठिकाने पर पहुँच गये। अभी मन को भी ठिकाना मिला तो तन को भी ठिकाना मिला। एक ही यात्रा से अनेक प्रकार का भटकना बन्द हो गया। तो सदा रूहानी यात्री हैं इस स्मृति में रहो, इससे सदा उपराम रहेंगे, न्यारे रहेंगे, निर्मोही रहेंगे। किसी में भी मोह नहीं जायेगा। यात्री का किसी में भी मोह नहीं जाता। ऐसी स्थिति सदा रहे।

विदाई के समय – बापदादा सभी देश-विदेश के बच्चों को देख खुश होते हैं क्योंकि सभी सहयोगी बच्चे हैं। सहयोगी बच्चों को बापदादा सदा दिलतख्तनशीन समझ याद कर रहे हैं। सभी निश्चयबुद्धि आत्मायें बाप की प्यारी हैं क्योंकि सभी गले का हार बन गई। अच्छा – सभी बच्चे सर्विस अच्छी वृद्धि को प्राप्त करा रहे हैं। अच्छा।

वरदान:- सच्ची सेवा द्वारा अविनाशी, अलौकिक खुशी के सागर में लहराने वाली खुशनसीब आत्मा भव
जो बच्चे सेवाओं में बापदादा और निमित्त बड़ों के स्नेह की दुआयें प्राप्त करते हैं उन्हें अन्दर से अलौकिक, आत्मिक खुशी का अनुभव होता है। वे सेवाओं द्वारा आन्तरिक खुशी, रूहानी मौज, बेहद की प्राप्ति का अनुभव करते हुए सदा खुशी के सागर में लहराते रहते हैं। सच्ची सेवा सर्व का स्नेह, सर्व द्वारा अविनाशी सम्मान और खुशी की दुआयें प्राप्त होने की खुशनसीबी के श्रेष्ठ भाग्य का अनुभव कराती है। जो सदा खुश हैं वही खुशनसीब हैं।
स्लोगन:- सदा हर्षित व आकर्षण मूर्त बनने के लिए सन्तुष्टमणी बनो।

 

सूचना:- आज अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस तीसरा रविवार है, सायं 6.30 से 7.30 बजे तक सभी भाई बहिनें संगठित रूप में एकत्रित हो योग अभ्यास में यही शुभ संकल्प करें कि मुझ आत्मा द्वारा पवित्रता की किरणें निकलकर सारे विश्व को पावन बना रही हैं। मैं मास्टर पतित पावनी आत्मा हूँ।

TODAY MURLI 16 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 16 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 15 February 2019 :- Click Here

16/02/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to claim a high status, imbibe the things that the Father teaches you exactly as He teaches you. Constantly continue to follow shrimat.
Question: What should you think about very well so that you never have any regrets about anything?
Answer: Whatever part each soul is playing is accurately fixed in the drama. This drama is eternal and imperishable. Think about this and you will never regret anything. Only those who don’t realis e the beginning, middle and end of the drama have regrets. You children have to observe the drama as detached observers – exactly as it is. There is no question of crying or sulking in this.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you spiritual children that souls are so tiny. The soul is very tiny whereas the body that is visible to the tiny soul is so large. When the tiny soul separates from it, he cannot see anything. You should think about the soul and what work such a tiny point does. Very tiny diamonds can be seen with a magnifying glass to see whether they have any flaws etc. Souls too are very tiny. See how they use a magnifying glass to examine diamonds. Look where the soul resides. Look at his connection. He sees such a huge earth and sky with these eyes. When the point departs, nothing remains. Just as the Father is a point, so, a soul too is a point. Such a tiny soul becomes pure and impure. These things have to be thought about very well. No one else knows what a soul is or what the Supreme Soul is. Look at what such a tiny soul does and what he sees while in a body. This soul has a whole part of 84 births recorded in him. It is a wonder how the soul works. Such a tiny point has a part recorded in him for 84 births. He sheds a body and takes another. When Nehru died and when Christ died, the bodies died and the souls left the bodies. The body is so large and the soul is so tiny. Baba has asked many times: How can people come to know that this world cycle turns every 5000 years? When someone dies, it is not a new thing. The soul of that person left that body and took another one. That soul had also left that name and form at this time 5000 years ago. The soul now knows that he sheds a body and takes another. You are now celebrating Shiva Jayanti. You show that you also celebrated Shiva Jayanti 5000 years ago. Every 5000 years, you have been celebrating Shiva Jayanti which is like a diamond. These things are true. You have to churn the ocean of knowledge so that you can then explain to others. You would say that these festivals are not new. History repeats so that every 5000 years all the actors take their own bodies. They shed their names, forms, places and times and take others. Churn this and write about it in such a way that people are amazed. I ask children: Have we met before? It is the tiny soul that has to be asked this. Did you meet Me before through that name and form? It is the soul that hears. So, many reply: Yes Baba, we met You before in the previous cycle. You each have a whole part in the drama in your intellect. Those actors are in limited drama s whereas this is the unlimited drama. This drama is very accurate; there cannot be the slightest difference in it. Those films that are played by a machine are limited. There can be two to four reels which continue to spin. This is the one and only eternal and imperishable unlimited drama. Such a tiny soul plays a part and then plays another part within it. A film r ee l of 84 births would be so long. This is nature. This sits in the intellects of some. It is like a record; it is very wonderful. It cannot be 8.4 million births; it is a cycle of 84 births. How can you give its introduction? If you explain to journalists, they would print it in the newspapers. You can also print this in the magazines every now and then. We are talking about the things of this confluence age. These things will not exist in the golden age or the iron age. It would be said of animals etc. and everything else that you will see all of that again after 5000 years; there cannot be any difference. Everything in the drama is fixed. In the golden age, animals will be very beautiful. The shooting of the history and geography of the whole world is taking place, just as shooting of a drama takes place. If a fly passes by and goes away, it will repeat in the same way. We will not worry about those trivial things now. First of all, the Father Himself says: I enter this lucky chariot every cycle at the confluence age. The soul said how He enters it. The soul is such a tiny point. He is then also called the Ocean of Knowledge. Only those of you children who are sensible are able to understand these things. I come every 5000 years. This is such a valuable study. Only the Father has accurate knowledge and He gives it to you children. If someone were to ask you, you would instantly be able to tell him that the duration of the golden age is 1250 years. The duration of each birth there is 150 years. Such a long part is played. You have the whole cycle in your intellects. We take 84 births. The whole world continues to turn in a cycle in this way. This drama is eternal, imperishable and predestined; there cannot be any new addition to it. It is remembered: Since everything is fixed, why worry about anything? Whatever happens is fixed in the drama. You have to observe it as a detached observer. In limited plays, when there are such parts played, those who are soft-hearted begin to cry. That is just a play, after all, whereas this is real. Here, each soul plays his own part. The drama never stops. There is no question of crying or sulking in this. This is nothing new. Only those who don’t realize the beginning, middle and end of the drama have regrets. Only you know this. Whatever status we attain through this knowledge at this time, we will become the same again after going around the cycle. These are very amazing things which you have to churn. No human beings know these things. Even the rishis and munis used to say: We do not know the Creator or creation. How would they know that the Creator is such a tiny point? He alone is the Creator of the new world. He is teaching you children. He is the Ocean of Knowledge. Only you children explain these things. You would not say that you do not know. The Father explains to you at this time. You don’t need to regret anything. You have to remain constantly cheerful. The film of those drama s will wear out through wear and tear; it will become old and you will then replace it and destroy the old one. This drama is unlimited and imperishable. You should think about these things and make them firm. This is the drama. We are following the Father’s shrimat and becoming pure from impure. There cannot be another way through which we impure ones can become pure or through which we can become satopradhan from tamopradhan. While playing our parts, we have become tamopradhan from satopradhan and we now have to become satopradhan. Neither is a soul destroyed nor is his part destroyed. No one thinks about such things. When people hear these things, they will be amazed. They simply study the scriptures of the path of devotion. The Ramayana, the Bhagawad, the Gita etc. are all the same. Here, you have to churn the ocean of knowledge. We have to imbibe everything that the unlimited Father explains, exactly as He explains it. Then we can claim a good status. Not everyone can imbibe to the same extent. Some people explain in great depth and subtlety. Nowadays, you go to give lectures in prisons. You also go to the prostitutes. You children must also go to those who are deaf and dumb, because they too have a right to this. They can understand through signals. The soul that understands is inside. Place a picture in front of them and they would at least be able to read it. The intellect is in the soul. Even if someone is blind or crippled, he can understand in one way or another. The blind have ears. Your picture of the ladder is very good. You can explain this knowledge to anyone and make them worthy of going to heaven. The soul can claim his inheritance from the Father. The soul can go to heaven. Perhaps the organs would be defect ive. There is no one lame or crippled there. There, both the soul and body are pure. Matter is also pure. New things are definitely satopradhan. This drama is predestined. One second cannot be the same as the next. There cannot be two seconds that are the same; there is always a little difference. You have to understand such a drama exactly as it is as a detached observer. You receive this knowledge at this time and you will not receive it again. Previously, you didn’t have this knowledge. This is called the eternal and imperishable predestined drama. Understand it well, imbibe it and explain it to others. Only you Brahmins know this knowledge. You are receiving the powerful medicine that gives strength. Anything that is the best of all is praised. You also know, numberwise, how the new world is established and what that kingdom will then be like. Those who know this can also explain to others. You have a lot of happiness. Some don’t have happiness worth even a penny. Each one has his own part. Those in whose intellects this sits and who churn the ocean of knowledge can also explain to others. This is your study and that is what you become. You can explain to anyone: You are a soul. It is the soul that remembers the Supreme Soul. All souls are brothers. It is said: God is One. All human beings have a soul in them. The parlokik Father of all souls is One. No one can make those whose intellects have firm faith change their minds. They would quickly make weak ones change their minds. They have so many debates about the notion of omnipresence. They too are very firm in their own knowledge. It is possible that they don’t belong to our religion. How can you say that they belong to the deity religion? The original eternal deity religion has disappeared. You children know that those of your original eternal deity religion belonged to the pure family path. It has now become impure. Those who were at first worthy of worship have now become worshippers. If you have learnt many points, you are able to explain to many others. The Father explains to you and you then have to explain to others how the world cycle turns. No one else apart from you knows this. You, too, are numberwise. Baba also has to repeat the points again and again because new ones come. They ask you how establishment took place in the beginning and you would then have to repeat that. You will remain very busy. You can also explain using the pictures. However, not everyone is able to imbibe knowledge to the same extent. Here, you need knowledge, you need remembrance and you need very good dharna. You definitely have to remember the Father in order to become satopradhan. Some children remain trapped in their own business. They don’t make any effort at all. This too is fixed in the drama. However much effort each of you made in the previous cycle, you will make the same effort again. At the end, you have to live as brothers. You came bodiless and you have to return bodiless. It should not be that you remember someone at the end. No one can go back yet. How could anyone go to heaven before destruction takes place? They would surely either go to the subtle region or take another birth here. They would make effort to remove whatever weaknesses still remain. However, they would only be able to understand when they grow older. This is all fixed in the drama. Only at the end will you have a constant stage. It isn’t that when you write down everything, you would remember it all. So, why are there so many books in the libraries etc? Doctors and lawyers keep many books; they continue to study them. There, human beings are lawyers for human beings. You souls become lawyers for souls. You souls are teaching souls. That is a worldly study whereas this is the spiritual study. Through this spiritual study, you will not make any mistakes for 21 births. Many mistakes are made in the kingdom of Ravan due to which you will have to tolerate a lot. Those who don’t study fully and don’t attain their karmateet stage will have to tolerate punishment. Then, their status would also be reduced. Only when you churn the ocean of knowledge and continue to reply to others would you think about these things. You children know that the Father whose Shiva Jayanti is being celebrated also came in the previous cycle. There was no question of any battle etc. All of those things are from the scriptures. This is a study. There is happiness in earning. Those who earn a hundred thousand have greater happiness. Some are millionaires whereas others have little money. However many jewels of knowledge some have, they have that much happiness. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Churn the ocean of knowledge and fill yourself with jewels of knowledge. Understand the secrets of the drama very well and also explain them to others. Don’t have any regrets about anything but remain constantly cheerful.
  2. You have to make your stage constant and stable over a long period of time so that, at the end, you remember no one except the one Father. Practise being brothers and that you are now going back home.
Blessing: May you be double light and remain detached and loving like a lotus by handing over everything to the Father.
To belong to the Father means to give all your burdens to the Father. To be double light means to hand over everything to the Father. “Even this body is not mine”. Since even that body does not belong to you, what else remains? All of you have made a promise: This body is Yours, the mind is Yours and all the wealth is Yours. Since everything belongs to the Father, how can there be any burdens? Therefore, keep the example of the lotus in your awareness and remain constantly loving and detached and you will become double light.
Slogan: True Pandavas are those who finish bossiness and who melt away all their awareness of the body with spirituality.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 16 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 February 2019

To Read Murli 15 February 2019 :- Click Here
16-02-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – ऊंच पद पाने के लिए बाप तुम्हें जो पढ़ाते हैं उसे ज्यों का त्यों धारण करो, सदा श्रीमत पर चलते रहो”
प्रश्नः- कभी भी अफसोस न हो, उसके लिए किस बात पर अच्छी तरह विचार करो?
उत्तर:- हर एक आत्मा जो पार्ट बजा रही है, वह ड्रामा में एक्यूरेट नूँधा हुआ है। यह अनादि और अविनाशी ड्रामा है। इस बात पर विचार करो तो कभी भी अफसोस नहीं हो सकता। अफसोस उन्हें होता जो ड्रामा के आदि मध्य अन्त को रियलाइज नहीं करते हैं। तुम बच्चों को इस ड्रामा को ज्यों का त्यों साक्षी होकर देखना है, इसमें रोने रूसने की कोई बात नहीं।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं कि आत्मा कितनी छोटी है। बहुत छोटी है और छोटी सी आत्मा से शरीर कितना बड़ा देखने में आता है। छोटी आत्मा अलग हो जाती है तो फिर कुछ भी नहीं देख सकती। आत्मा के ऊपर विचार किया जाता है। इतनी छोटी बिन्दी क्या-क्या काम करती है। मैग्नीफाय ग्लास होते हैं, उनसे छोटे-छोटे हीरों को देखा जाता है। कोई दाग आदि तो नहीं है। तो आत्मा भी कितनी छोटी है। कैसे मैग्नीफाय ग्लास है – जिससे देखते हो। रहती कहाँ है? क्या कनेक्शन है? इन आंखों से कितना बड़ा धरती आसमान देखने में आता है! बिन्दी निकल जाने से कुछ नहीं रहता। जैसे बिन्दी बाप वैसे बिन्दी आत्मा। इतनी छोटी आत्मा प्युअर इमप्युअर बनती है। यह बहुत विचार करने की बातें हैं। दूसरा कोई नहीं जानते – आत्मा क्या है, परमात्मा क्या है। इतनी छोटी आत्मा शरीर में रह क्या-क्या बनाती है। क्या-क्या देखती है। उस आत्मा में सारा पार्ट भरा हुआ है – 84 का। कैसे वह काम करती है, वन्डर है। इतनी छोटी सी बिन्दी में 84 जन्मों का पार्ट नूँधा हुआ है। एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। समझो नेहरू मरा, क्राइस्ट मरा। आत्मा निकल गई तो शरीर मर गया। कितना बड़ा शरीर है और कितनी छोटी आत्मा है। यह भी बाबा ने बहुत बार समझाया है कि मनुष्यों को कैसे पता पड़े कि यह सृष्टि का चक्र हर 5 हजार वर्ष बाद फिरता है। फलाना मरा यह कोई नई बात नहीं। उनकी आत्मा ने यह शरीर छोड़ दूसरा लिया। 5 हजार वर्ष पहले भी इस नाम रूप को इसी समय छोड़ा था। आत्मा जानती है हम एक शरीर छोड़ दूसरे में प्रवेश करती हूँ।

अभी तुम शिवजयन्ती मनाते हो। दिखाते हो 5 हजार वर्ष पहले भी शिवजयन्ती मनाई थी। हर 5 हजार वर्ष बाद शिवजयन्ती जो हीरे तुल्य है, मनाते ही आते हैं। यह सही बातें हैं। विचार सागर मंथन करना होता है जो औरों को समझा सकें। यह त्योहार होते हैं, तुम कहेंगे नई बात नहीं, हिस्ट्री रिपीट होती है जो फिर 5 हजार वर्ष बाद जो भी पार्टधारी हैं वह अपना शरीर लेते हैं। एक नाम रूप देश काल छोड़ दूसरा लेते हैं। इस पर विचार सागर मंथन कर ऐसा लिखें जो मनुष्य वन्डर खायें। बच्चों से हम पूछते हैं ना – आगे कब मिले हो? इतनी छोटी आत्मा से ही पूछना होता है ना। तुम इस नाम रूप में आगे कब मिले थे? आत्मा ने सुना। तो बहुत कहते हैं हाँ बाबा, आपसे कल्प पहले मिले थे। सारा ड्रामा का पार्ट बुद्धि में है। वह होते हैं हद के ड्रामा के एक्टर्स। यह है बेहद का ड्रामा। यह ड्रामा बड़ा एक्यूरेट है, इसमें जरा भी फ़र्क नहीं पड़ सकता। वह बाइसकोप होते हैं हद के, मशीन पर चलते हैं। दो चार रोल भी हो सकते हैं, जो फिरते हैं। यह तो अनादि अविनाशी एक ही बेहद का ड्रामा है। इसमें कितनी छोटी आत्मा एक पार्ट बजाए फिर दूसरा बजाती है। 84 जन्मों का कितना बड़ा फिल्म रोल होगा। यह कुदरत है। कोई की बुद्धि में बैठेगा! है तो रिकार्ड मिसल, बड़ा वन्डरफुल है। 84 लाख तो हो न सके। 84 का ही चक्र है, इनकी पहचान कैसे दी जाए। अखबार वालों को भी समझाओ तो डालेंगे। मैंगजीन में भी घड़ी-घड़ी डाल सकते हैं। हम इस संगम के समय की ही बातें करते हैं। सतयुग में तो यह बातें होंगी नहीं। न कलियुग में होंगी। जानवर आदि जो भी कुछ हैं, सबके लिए कहेंगे फिर 5 हजार वर्ष के बाद देखेंगे। फर्क नहीं पड़ सकता। ड्रामा में सारी नूँध है। सतयुग में जानवर भी बहुत खूबसूरत होंगे। यह सारी वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होगी। जैसे ड्रामा की शूटिंग होती है। मक्खी उड़ी वह भी निकल गई तो फिर रिपीट होगी। अब हम इन छोटी-छोटी बातों का ख्याल तो नहीं करेंगे। पहले तो बाप खुद कहते हैं हम कल्प-कल्प संगमयुगे इस भाग्यशाली रथ पर आता हूँ। आत्मा ने कहा कैसे इसमें आते हैं, इतनी छोटी बिन्दी है। उनको फिर ज्ञान का सागर कहते हैं। यह बातें तुम बच्चों में भी जो समझू हैं, वह समझ सकते हैं। हर 5हजार वर्ष के बाद मैं आता हूँ। कितनी यह वैल्युबुल पढ़ाई है। बाप के पास ही एक्यूरेट नॉलेज है जो बच्चों को देते हैं। तुम्हारे से कोई पूछे तुम झट कहेंगे सतयुग की आयु 1250 वर्ष की है। एक-एक जन्म की आयु 150 वर्ष होती है। कितना पार्ट बजता है। बुद्धि में सारा चक्र फिरता है। हम 84 जन्म लेते हैं। सारी सृष्टि ऐसे चक्र में फिरती रहती है। यह अनादि अविनाशी बना बनाया ड्रामा है। इसमें नई एडीशन हो नहीं सकती। गायन भी है चिंता ताकी कीजिए जो अनहोनी होए। जो कुछ होता है ड्रामा में नूँध है। साक्षी होकर देखना पड़ता है। उस नाटक में कोई ऐसा पार्ट होता है तो जो कमजोर दिल वाले होते हैं वो रोने लग पड़ते हैं। है तो नाटक ना। यह रीयल है, इसमें हर आत्मा अपना पार्ट बजाती है। ड्रामा कभी बन्द नहीं होता है। इसमें रोने रूसने की कोई बात नहीं। कोई भी नई बात थोड़ेही है। अफसोस उनको होता है जो ड्रामा के आदि मध्य अन्त को रियलाइज नहीं करते। यह भी तुम जानते हो। इस समय जो हम इस ज्ञान से पद पाते हैं, चक्र लगाकर फिर वही बनेंगे। यह बड़ी आश्चर्यवत विचार सागर मंथन करने की बातें हैं। कोई भी मनुष्य इन बातों को नहीं जानते। ऋषि मुनि भी कहते थे – हम रचता और रचना को नहीं जानते हैं। उनको क्या पता कि रचता इतनी छोटी बिन्दी है। वही नई सृष्टि का रचता है। तुम बच्चों को पढ़ाते हैं, ज्ञान का सागर है। यह बातें तुम बच्चे ही समझाते हो। तुम थोड़ेही कहेंगे हम नहीं जानते हैं। तुमको बाप इस समय सब समझाते हैं।

तुमको कोई भी बात में अफसोस करने की जरूरत नहीं। सदैव हर्षित रहना है। उस ड्रामा की फिल्म चलते चलते घिस जायेगी, पुरानी हो जायेगी फिर बदली करेंगे। पुरानी को खलास कर देते हैं। यह तो बेहद का अविनाशी ड्रामा है। ऐसी-ऐसी बातों पर विचार कर पक्का कर लेना चाहिए। यह ड्रामा है। हम बाप की श्रीमत पर चल पतित से पावन बन रहे हैं और कोई बात हो नहीं सकती, जिससे हम पतित से पावन बन जायें अथवा तमो-प्रधान से सतोप्रधान बनें। पार्ट बजाते-बजाते हम सतोप्रधान से तमोप्रधान बने हैं फिर सतोप्रधान बनना है। न आत्मा विनाश को पा सकती, न पार्ट विनाश को पा सकता। ऐसी-ऐसी बातों पर कोई का विचार नहीं चलता। मनुष्य तो सुनकर वन्डर खायेंगे। वह तो सिर्फ भक्ति मार्ग के शास्त्र ही पढ़ते हैं। रामायण, भागवत, गीता आदि वही हैं। इसमें तो विचार सागर मंथन करना होता है। बेहद का बाप जो समझाते हैं उसको ज्यों का त्यों हम धारण कर लें तो अच्छा ही पद पा लें। सब एक जैसी धारणा नहीं कर सकते हैं। कोई तो बहुत महीनता से समझाते हैं। आजकल जेल में भी भाषण करने जाते हैं। वेश्याओं के पास भी जाते हैं, गूँगे बहरों के पास भी बच्चे जाते होंगे क्योंकि उन्हों का भी हक है। इशारे से समझ सकते हैं। आत्मा समझने वाली तो अन्दर है ना। चित्र सामने रख दो, पढ़ तो सकेंगे ना। बुद्धि तो आत्मा में है ना। भल अन्धे लूले लंगड़े हैं परन्तु कोई न कोई प्रकार से समझ सकते हैं। अन्धों के कान तो हैं। तुम्हारा सीढ़ी का चित्र तो बहुत अच्छा है। यह नॉलेज कोई को भी समझाकर स्वर्ग में जाने लायक बना सकते हो। आत्मा बाप से वर्सा ले सकती है। स्वर्ग में जा सकती है। करके आरगन्स डिफेक्टेड हैं। वहाँ तो लूले लंगड़े होते नहीं। वहाँ आत्मा और शरीर दोनों कंचन मिल जाते हैं। प्रकृति भी कंचन है, नई चीज़ जरूर सतोप्रधान होती है। यह भी ड्रामा बना हुआ है। एक सेकेण्ड न मिले दूसरे से। कुछ न कुछ फर्क पड़ता है। ऐसे ड्रामा को ज्यों का त्यों साक्षी होकर देखना है। यह नॉलेज तुमको अब मिलती है फिर कभी नहीं मिलनी है। आगे यह नॉलेज थोड़ेही थी, यह अनादि अविनाशी बना बनाया ड्रामा कहा जाता है। इसको अच्छी रीति समझ और धारण कर किसी को समझाना है।

तुम ब्राह्मण ही इस ज्ञान को जानते हो। यह तो चोबचीनी (ताकत की दवा) तुमको मिलती है। अच्छे ते अच्छी चीज़ की महिमा की जाती है। नई दुनिया कैसे स्थापन होती है फिर से यह राज्य कैसे होगा तुम्हारे में भी नम्बरवार जानते हैं। जो जानते हैं वह दूसरों को समझा भी सकते हैं। बहुत खुशी रहती है। किन्हों को तो पाई की भी खुशी नहीं है। सबका अपना-अपना पार्ट है। जिनको बुद्धि में बैठता होगा, विचार सागर मंथन करते होंगे तो दूसरों को भी समझायेंगे। तुम्हारी यह है पढ़ाई जिससे तुम यह बनते हो। तुम कोई को भी समझाओ कि तुम आत्मा हो। आत्मा ही परमात्मा को याद करती है। आत्मायें सब ब्रदर्स हैं। कहावत है गाड इज वन। बाकी सब मनुष्यों में आत्मा है। सब आत्माओं का पारलौकिक बाप एक है। जो पक्के निश्चयबुद्धि होंगे उनको कोई फिरा नहीं सकते। कच्चे को जल्दी फिरा देंगे। सर्वव्यापी के ज्ञान पर कितनी डिबेट करते हैं। वह भी अपने ज्ञान पर पक्के हैं, हो सकता है हमारे इस ज्ञान का न हो। उनको देवता धर्म का कैसे कह सकते। आदि सनातन देवी-देवता धर्म तो प्राय:लोप है। तुम बच्चों को मालूम है, हमारा ही आदि सनातन धर्म पवित्र प्रवृत्ति वाला था। अब तो अपवित्र हो गया है। जो पहले पूज्य थे वही पुजारी बन पड़े हैं। बहुत प्वाइंट्स कण्ठ होंगी तो समझाते रहेंगे। बाप तुमको समझाते हैं तुम फिर औरों को समझाओ कि यह सृष्टि चक्र कैसे फिरता है। सिवाए तुम्हारे और कोई नहीं जानते। तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं।

बाबा को भी घड़ी-घड़ी प्वाइंट्स रिपीट करनी पड़ती हैं क्योंकि नये-नये आते हैं। शुरू में कैसे स्थापना हुई, तुम्हारे से पूछेंगे फिर तुमको भी रिपीट करना पड़ेगा। तुम बहुत बिजी रहेंगे। चित्रों पर भी तुम समझा सकते हो। परन्तु ज्ञान की धारणा सबको एकरस तो नहीं हो सकती है। इसमें ज्ञान चाहिए, याद चाहिए, धारणा बड़ी अच्छी चाहिए। सतोप्रधान बनने के लिए बाप को याद जरूर करना है। कई बच्चे तो अपने धन्धे में फँसे रहते हैं। कुछ भी पुरूषार्थ ही नहीं करते। यह भी ड्रामा में नूँध है। कल्प पहले जिन्होंने जितना पुरूषार्थ किया है उतना ही करेंगे। पिछाड़ी में तुमको एकदम भाई-भाई होकर रहना है। नंगे आये हैं, नंगे जाना है। ऐसा न हो पिछाड़ी में कोई याद आ जाये। अभी तो कोई वापिस जा न सके। जब तक विनाश न हो, स्वर्ग में कैसे जा सकेंगे। जरूर या तो सूक्ष्मवतन में जायेंगे या यहाँ ही जन्म लेंगे। बाकी जो कमी रही होगी उसका पुरूषार्थ करेंगे। वह भी बड़े हों तब समझ सकें। यह भी ड्रामा में सारी नूँध है। तुम्हारी एकरस अवस्था तो पिछाड़ी में ही होगी। ऐसे नहीं लिखने से सब याद हो सकता है। फिर लाइब्रेरीज़ आदि में इतनी किताबें क्यों होती हैं। डॉक्टर, वकील लोग बहुत किताबें रखते हैं। स्टडी करते रहते हैं, वह मनुष्य, मनुष्य के वकील बनते हैं। तुम आत्मायें, आत्माओं के वकील बनती हो। आत्मायें, आत्माओं को पढ़ाती हैं। वह है जिस्मानी पढ़ाई। यह है रूहानी पढ़ाई। इस रूहानी पढ़ाई से फिर 21 जन्म कभी भूलचूक नहीं होगी। माया के राज्य में बहुत भूलचूक होती रहती है, जिस कारण से सहन करना पड़ता है। जो पूरा नहीं पढ़ेंगे, कर्मातीत अवस्था को नहीं पायेंगे तो सहन करना ही पड़ेगा। फिर पद भी कम हो जायेगा। विचार सागर मंथन कर औरों को सुनाते रहेंगे तब चिन्तन चलेगा। बच्चे जानते हैं कल्प पहले भी ऐसे बाप आया था, जिसकी शिवजयन्ती मनाई जाती है। लड़ाई आदि की तो कोई बात नहीं। वह सब हैं शास्त्रों की बातें। यह पढ़ाई है। आमदनी में खुशी होती है। जिनको लाख होते हैं, उनको जास्ती खुशी होती है। कोई लखपति भी होते हैं, कोई कखपति भी होते हैं अर्थात् थोड़े पैसे वाले भी होते हैं। तो जिसके पास जितने ज्ञान रत्न होंगे उतनी खुशी भी होगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) विचार सागर मंथन कर स्वयं को ज्ञान रत्नों से भरपूर करना है। ड्रामा के राज़ को अच्छी रीति समझकर दूसरों को समझाना है। किसी भी बात में अफसोस न कर सदा हर्षित रहना है।

2) अपनी अवस्था बहुतकाल से एकरस बनानी है ताकि पिछाड़ी में एक बाप के सिवाए दूसरा कोई भी याद न आये। अभ्यास करना है हम भाई भाई हैं, अभी वापस जाते हैं।

वरदान:- सब कुछ बाप हवाले कर कमल पुष्प समान न्यारे प्यारे रहने वाले डबल लाइट भव
बाप का बनना अर्थात् सब बोझ बाप को दे देना। डबल लाइट का अर्थ ही है सब कुछ बाप हवाले करना। यह तन भी मेरा नहीं। तो जब तन ही नहीं तो बाकी क्या। आप सबका वायदा ही है तन भी तेरा, मन भी तेरा, धन भी तेरा – जब सब कुछ तेरा कहा तो बोझ किस बात का इसलिए कमल पुष्प का दृष्टान्त स्मृति में रख सदा न्यारे और प्यारे रहो तो डबल लाइट बन जायेंगे।
स्लोगन:- रूहानियत से रोब को समाप्त कर, स्वयं को शरीर की स्मृति से गलाने वाले ही सच्चे पाण्डव हैं।
Font Resize