16 august ki murli

TODAY MURLI 16 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 16 August 2020

16/08/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
07/03/86

Maha Shiv Ratri is the accurate memorial of the four subjects of the study.

Today, the Bestower of Knowledge, the Bestower of Fortune, the Bestower of Blessings and of all Powers, the Father, the Innocent Lord who fills everyone with all treasures, has come to meet His extremely loving, constantly co-operative and close children. These meetings become memorials that are celebrated from time to time as festivals. All the festivals that are celebrated with different names from time to time are thememorials of the sweet and enthusiastic meetings of the Father and the children of the present time; they take the form of festivals in the future. At this time, each moment of each day of you most elevated children is for staying in constant happiness. From the copper age, devotees have been making the alokik life of this short confluence age, the alokik attainments and the alokik experiences into festivals with different names. This life, this one birth of yours, becomes a means of remembrance on the path of devotion for 63 births. You are such great souls! The most wonderful thing of this time is that you are celebrating it practically and are also now celebrating its memorial, which you can see. You now exist in the living form and the images also exist at the same time. What did each of you attain 5000 years ago? What did you become? How did you become that? You now know very clearly this accurate memorial and your horoscope of 5000 years. You are listening to this and are also very pleased to see that they are remembering and worshipping you and telling the stories of your lives. They couldn’t create your original images identically, but they were touched with that love and faith, and this is why they made those images. So, you celebrate Shiv Jayanti in a practical way every day, because the confluence age is the age of the incarnation (of God). It is the age of performing an elevated task and elevated activities. However, you are also celebrating the memorial of this day within this unlimited age. All of you celebrate by having a meeting, whereas their celebration is an invocation. Theirs is calling out, whereas yours is having attained. They say, “Come!”, and you say, “He has come, we have found Him!” There is as much difference between the memorial and the practical as there is between day and night. In fact, this is the day of the Father, the Innocent Lord. The Innocent Lord means the One who bestows without counting, without keeping an account of it. Generally, there is an account of receiving as much as you give. Whoever does something, receives the return of that, accordingly. That is an account. However, why is He called the Innocent Lord? Because, at this time, He doesn’t keep an account of giving to you the same as you give. The account is of receiving multimillion-fold for one. So, it has become countless, has it not? There is such a great difference between one and multimillionfold. “Multimillions” (padam) is said because that is the last word in counting (multimillions = padma padam). They celebrate as a festival the day of the Innocent Treasurer, the One who gives without counting. You have received so much that you are completely full at this time, and you will also always be completely full for 21 births and 21 generations. No one else can give a guarantee for so many births. No matter how great a bestower someone is, no one can guarantee to make your treasure-store completely full for so many births. So, He is the Innocent Lord, is He not? Whilst being knowledge-full, He remains innocent. This is why He is called the Innocent Lord. In fact, if He kept accounts, He could know the account of each and every thought. However, whilst knowing all of that, He becomes the Innocent Lord when it comes to giving. So, all of you are innocent children of the Father, the Innocent Lord, are you not? On the one hand, you call Him the Innocent Lord and, on the other hand, you call Him the Treasurer who is completely full. Look how well you celebrate the memorial! Those people who celebrate it do not know it, but you know it. All four special subjects of the main study of the confluence age are celebrated on this memorial-day. How? You were also told earlier that on the day of this festival special importance is given to the point and the drop. The point is a symbol of the subject of remembrance, that is, of yoga. In remembrance, you stabilise yourself in the stage of a point, do you not? So, the point is a symbol of remembrance, and the drop represents the different drops of knowledge. The sign given to the subject of knowledge is the drop. The sign of dharna on this day is the special fast they keep. So, you observe a fast. In dharna, you have determination. So, you make a vow (fast) that you will definitely be tolerant and introverted. You make this vow, do you not? This symbolises dharna, and the sign of service is “jaagran” (staying up all night). In fact, you do service in order to awaken others. To awaken them from the sleep of ignorance, to enable them to stay awake and toawaken them is your service. So, this jaagran symbolises service. So, all four subjects have been covered, have they not? However, they have just taken a physical form. Nevertheless, devotees have that love and faith, and the sign of true devotees is that, whatever thought they have, they will remain very firm in that thought. This is why the Father also has love for devotees. At least they have made your memorial continue eternally from the copper age. Especially on this day, just as you repeatedly have surrender ceremonies here at the confluence age and you also celebrate it individually, in the same way, as a memorial of this function of yours, they do not sacrifice themselves, but they sacrifice a goat. They make a sacrifice. In fact, BapDada also says amusingly that it is only when you surrender that consciousness of “I” (meh, meh) that you can surrender yourself, that is, you can become complete and equal to the Father. What was the first step that Father Brahma took? He celebrated the surrender ceremony of “I” and “mine”, that is, in any situation, instead of “I” you always heard the word “Father” in his natural language, in his ordinary language. He never said, “I”. “Baba is making me do it, not that I am doing it. No, Baba is making me move, not that I am saying this. No, Baba is speaking.” To have attachment to any limited being or thing is to have the consciousness of “mine”. To surrender the consciousness of “mine” and “I” is called making a sacrifice. To make this sacrifice means to make the greatest sacrifice. So, this is a sign of surrendering. Baba gives thanks to the devotees for one thing: whether in Bharat or in any other country, in order to spread a wave of enthusiasm in any form, they have created very good festivals. Whether it is for two days or just a day, at least the wave of enthusiasm (utsaah) spreads. This is why it is called a festival (utsav). At least the attention of the majority of them is drawn to the Father temporarily for a special purpose. So what special things will you do on this special day? On the path of devotion, when some people hold a fast they do it for good, whereas others don’t have that courage and have the fast for a month or a day or for just a short time; they then break that fast. You don’t do this, do you? In Madhuban, your feet are not on the ground. So, when you go back to foreign lands, will you come down to earth or will you remain up above? Will you always remain up above and just come down to act or will you act whilst always being down below? To remain up above means to remain in the stage up above (high stage). It isn’t that you have to dangle up above from some ceiling! It means to remain stable in a high stage and perform ordinary acts, that is, to come down (to act). Whilst performing ordinary acts, let your stage remain up above, that is, let it remain elevated. The Father adopts an ordinary body and He only performs ordinary acts. He speaks in the same way as you do. He moves in the same way as you do. So, the actions are ordinary, the body is ordinary but, whilst performing ordinary acts, His stage remains high. In the same way, let the stage of all of you always be high. Just as you call today the day of the incarnation, similarly, every day, at amrit vela, don’t think that you have come from being asleep but that you have incarnated from the land of peace in order to act. At night, after acting, you then return to the land of peace. An incarnation incarnates to perform an elevated action. They are not said to have taken birth, but they are said to have incarnated. An incarnation is when they come down from the stage up above. So, when actions are performed in that stage, even ordinary actions change into alokik actions. Other people eat their meals (bhojan), whereas you eat Brahma bhojan. So, there is a difference, is there not? You also move along, but you move along as angels do, you move in a double-light stage. So, it is all alokik activity and alokik actions. Therefore, it is not just today that is the day of the incarnation, but the confluence age itself is the day of the incarnation. On this day, you congratulate BapDada but BapDada says: You first. If it weren’t for you children, who would say, “Father”? It is the children who call the Father, “Father”. Therefore, first of all, congratulations to the children. All of you sing the birthday song: Happy birthday to You. BapDada also says: Happy birthday to you. The children gave birthday congratulations to the Father and the Father gave them to the children. You are being sustained with congratulations (encouragement). What is the sustenance of all of you? You are being sustained with congratulations from the Father and the family. You are singing, dancing, being sustained and flying with congratulations. This sustenance is also wonderful. What do you give one another at every moment? Congratulations and this is the means of sustenance. No matter what someone is like, BapDada knows and you also know that everything is numberwise. If it weren’t numberwise, then, in the golden age, you would need to build a minimum of 150,000 thrones. This is why it has to be numberwise. It has to be numberwise, but if you sometimes think that someone is wrong, that he is not doing something good, the way to put that wrong right, the way to teach the accurate method of doing something to someone who is not doing something correctly, is not to tell him directly that he is wrong. If you say this, that person will never change. In order to put out a fire, you don’t start another fire; you pour cold water on it. Therefore, if you first tell someone he is wrong, that person will then become even more disheartened. First of all, reassure that person by saying that he is good, that everything is good. First of all, at least sprinkle the water, then explain to him why the fire started. Don’t tell him straightaway: You are like this and you did this and you did that. First of all, sprinkle cold water. Then he will also realise the reason why the fire started and what the method is to put out the fire. If someone is bad and you tell him that he is bad, that is like pouring oil on to a fire. Therefore, first of all say, “It is very good, it is very good”, and then tell him whatever you have to and he will then have the courage to listen to it and imbibe it. This is why Baba was telling you that to say, “Very good, very good”, is to give congratulations. For instance, BapDada too would never say to anyone directly that he is wrong. He would say in the murli what is right and what is wrong. However, if someone comes and asks Baba directly if he is wrong, he would say, “No, you are absolutely right,” because that person doesn’t have courage at that time. Just as, when a patient is about to go and is on his last breath, if he asks the doctor if he is now about to go, the doctor would never say: “Yes, you are about to go, because the patient doesn’t have courage at that time. If someone has a weak heart and you told him this sort of thing, he would definitely have heart failure, that is, he would not have the power to make effort to bring about transformation. So, the confluence age is the age to bring about growth with congratulations. These congratulations are elevated sustenance. This is why, whenever they celebrate the memorial of the sustenance of your congratulations on the day of any of the deities, they call that a big day. Whenever it is Deepmala or Shiv Ratri, they call it a big day. Any festival they have, they call a big day. Because you have big hearts, they have called them big days. To give congratulations to one another is to have big hearts. Do you understand? It is not that you wouldn’t tell someone who is wrong that he is wrong, but you must have a little patience. You will have to give a signal, but at least choose the right time. That person is dying and you tell him: Die, die! Therefore, consider the time, consider his courage. By saying, “Very good, very good”, that person receives courage. However, say it from your heart. Don’t just say it superficially, so that that person feels you are just saying it for the sake of it. This is a matter of feeling. Let the feeling in your heart be that of mercy, and his heart will also feel that mercy. So, constantly continue to give congratulations and continue to receive congratulations. These congratulations are blessings. The memorial for this day is: the bhandara (treasure store) of Shiva overflowing. So, this is praise of you too, not just of Father Shiva. Let the bhandara always be overflowing. Children of the Bestower, become bestowers! You were told that the devotees are those who take (levta), whereas you are the bestowers (devta), so a bestower means one who gives. When you give someone something and then take something from him, he will not feel it. You can make him accept anything, but you first have to give him something. Give courage, give hope, give happiness and then, if you want him to accept anything, he will do that. So, continue to celebrate the festival every day. To celebrate a meeting with the Father every day is to celebrate a festival. So, every day is a festival. Achcha. To all the children everywhere, imperishable congratulations for the day of incarnation for every day of the confluence age, to those who are always bestowers and bestowers of blessings, like the Father, and who make every soul full, to the children who are master lords of innocence, to those who always stay in remembrance and make their every action a memorial, to the elevated children who always move forward in service and in self-progress with zeal and enthusiasm, on this special day of the memorial of Shiv Jayanti and so Brahmin Jayanti, the jayanti as valuable as a diamond, congratulations for the jayanti of making everyone happy and full, love, remembrance and namaste.

Blessing: May you be a master creator and use each of your powers according to your orders.
Before performing any act, invoke the power according to the act. Order it as its master, because all of these powers are like your arms. Your arms cannot do anything without your ordersOrder the power of tolerance to accomplish a task successfully and see how success is guaranteed. However, if, instead of issuing the order, you become afraid and think about whether you will be able to do something or not, if you have this type of fear, the order will not work. Therefore, be a fearless master creator and use every power according to your orders.
Slogan: Bring everyone to the shore by revealing the Father, the Bestower of Support.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 16 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

16-08-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 07-03-86 मधुबन

“पढ़ाई की चारों सबजेक्ट का यथार्थ यादगार – महा-शिवरात्रि”

आज ज्ञान दाता, भाग्य विधाता, सर्वशक्तियों के वरदाता, सर्व खजानों से भरपूर करने वाले भोलानाथ बाप अपने अति स्नेही सदा सहयोगी, समीप बच्चों से मिलने के लिए आये हैं। यह मिलन ही सदाकाल का उत्सव मनाने का यादगार बन जाता है। जो भी भिन्न-भिन्न नामों से समय प्रति समय उत्सव मनाते हैं – वह सभी इस समय बाप और बच्चों के मधुर मिलन, उत्साह भरा मिलन, भविष्य के लिए उत्सव के रूप में बन जाता है। इस समय आप सर्वश्रेष्ठ बच्चों का हर दिन, हर घड़ी सदा खुशी में रहने की घड़ियां वा समय है। तो इस छोटे से संगमयुग के अलौकिक जीवन, अलौकिक प्राप्तियाँ, अलौकिक अनुभवों को द्वापर से भक्तों ने भिन्न-भिन्न नाम से यादगार बना दिये हैं। एक जन्म की आपकी यह जीवन भक्ति के 63 जन्मों के लिए याद का साधन बन जाती है। इतनी महान आत्मायें हो! इस समय की सबसे वन्डरफुल बात यही देख रहे हो – जो प्रैक्टिकल भी मना रहे हो और निमित्त उस यादगार को भी मना रहे हो। चैतन्य भी हो और चित्र भी साथ-साथ हैं।

5 हजार वर्ष पहले हर एक ने क्या-क्या प्राप्त किया, क्या बने, कैसे बने, यह 5 हजार वर्ष का पूरा अपना यादगार चित्र और जन्म-पत्री सभी स्पष्ट रूप में जान गये हो। सुन रहे हो और देख-देख हर्षित हो रहे हो कि यह हमारा ही गायन पूजन हमारे जीवन की कथायें वर्णन कर रहे हैं। ओरीज्नल आपका चित्र तो बना नहीं सकते हैं इसलिए भावनापूर्वक जो भी टच हुआ वह चित्र बना दिया है। तो प्रैक्टिकल शिव-जयन्ति तो रोज़ मनाते ही हो क्योंकि संगमयुग है ही अवतरण का युग, श्रेष्ठ कर्तव्य, श्रेष्ठ चरित्र करने का युग। लेकिन बेहद युग के बीच मे यह यादगार दिन भी मना रहे हो। आप सबका मनाना है – मिलन मनाना और उन्हों का मनाना है आह्वान करना। उन्हों का है पुकारना और आपका है पा लेना। वह कहेंगे “आओ” और आप कहेंगे “आ गये”, मिल गये। यादगार और प्रैक्टिकल में कितना रात-दिन का अन्तर है। वास्तव में यह दिन भोलानाथ बाप का दिन है, भोलानाथ अर्थात् बिना हिसाब के अनगिनत देने वाला। वैसे जितना और उतने का हिसाब होता है, जो करेगा वह पायेगा। उतना ही पायेगा। यह हिसाब है। लेकिन भोलानाथ क्यों कहते? क्योंकि इस समय देने में जितने और उतने का हिसाब नहीं रखता। एक का पदम-गुणा हिसाब है। तो अनगिनत हो गया ना। कहाँ एक कहाँ पदम। पदम भी लास्ट शब्द है इसलिए पदम कहते हैं। अनगिनत देने वाले भोले भण्डारी का दिन यादगार रूप में मनाते हैं। आपको तो इतना मिला है जो अब तो भरपूर हो ही लेकिन 21 जन्म, 21 पीढ़ी सदा भरपूर रहेंगे।

इतने जन्मों की गैरन्टी और कोई नहीं कर सकता। कितना भी कोई बड़ा दाता हो लेकिन अनेक जन्म का भरपूर भण्डारा होने की गैरन्टी कोई भी नहीं कर सकता। तो भोलानाथ हुआ ना। नॉलेजफुल होते भी भोला बनते हैं… इसलिए भोलानाथ कहा जाता है। वैसे तो हिसाब करने में, एक-एक संकल्प का भी हिसाब जान सकते हैं। लेकिन जानते हुए भी देने में भोलानाथ ही बनता है। तो आप सभी भोलानाथ बाप के भोलानाथ बच्चे हो ना! एक तरफ भोलानाथ कहते दूसरे तरफ भरपूर भण्डारी कहते हैं। यादगार भी देखो कितना अच्छा मनाते हैं। मनाने वालों को पता नहीं लेकिन आप जानते हो। जो मुख्य इस संगमयुग की पढ़ाई है, जिसकी विशेष 4 सबजेक्ट हैं वह चार ही सबजेक्ट यादगार दिवस पर मनाते आते हैं। कैसे? पहले भी सुनाया था कि विशेष इस उत्सव के दिन बिन्दु का और बूंद का महत्व होता है। तो बिन्दु इस समय के याद अर्थात् योग के सबजेक्ट की निशानी है। याद में बिन्दु स्थिति में ही स्थित होते हो ना! तो बिन्दु याद की निशानी और बूँद – ज्ञान की भिन्न-भिन्न बूँदे। इस ज्ञान के सबजेक्ट की निशानी बूँद के रूप में दिखाई है। धारणा की निशानी इसी दिन विशेष व्रत रखते हैं। तो व्रत धारण करना। धारणा में भी आप दृढ़ संकल्प करते हो। तो व्रत रखते हो कि ऐसा सहनशील वा अन्तर्मुख अवश्य बनके ही दिखायेंगे। तो यह व्रत धारण करते हो ना! यह व्रत धारणा की निशानी है और सेवा की निशानी है जागरण। सेवा करते ही हो किसको जगाने के लिए। अज्ञान नींद से जगाना, जागरण कराना, जागृति दिलाना – यही आपकी सेवा है। तो यह जागरण सेवा की निशानी है। तो चार ही सबजेक्ट आ गई ना। लेकिन सिर्फ रूप-रेखा उन्होंने स्थूल रूप में बदल दी है। फिर भी भक्त भावना वाले होते हैं और सदा ही सच्चे भक्तों की यह निशानी होगी कि जो संकल्प करेंगे उसमें दृढ़ रहेंगे, इसलिए भक्तों से भी बाप का स्नेह है। फिर भी आपके यादगार को द्वापर से परम्परा तो चला रहे हैं और विशेष इस दिन जैसे आप लोग यहाँ संगमयुग पर बार-बार समर्पण समारोह मनाते हो, अलग-अलग भी मनाते हो, ऐसे ही आपके इस फंक्शन का भी यादगार वह स्वयं को समर्पण नहीं करते लेकिन बकरे को करते हैं। बलि चढ़ा देते हैं। वैसे तो बापदादा भी हंसी में कहते हैं कि यह मैं-मैं-पन का समर्पण हो तब समर्पण अर्थात् सम्पूर्ण बनो। बाप समान बनो। जैसे ब्रह्मा बाप ने पहला-पहला कदम क्या उठाया? मैं और मेरा-पन का समर्पण समारोह माना किसी भी बात में मैं के बजाए सदा नेचुरल भाषा में साधारण भाषा में भी बाप शब्द ही सुना। मैं शब्द नहीं।

बाबा करा रहा है, मैं कर रहा हूँ, नहीं। बाबा चला रहा है, मै कहता हूँ, नहीं। बाबा कहता है। हद के कोई भी व्यक्ति या वैभव से लगाव यह मेरापन है। तो मेरेपन को और मैं-पन को समर्पण करना इसको ही कहते हैं बलि चढ़ना। बलि चढ़ना अर्थात् महाबली बनना। तो यह समर्पण होने की निशानी है।

तो बापदादा भक्तों को एक बात की आफरीन देते हैं – किसी भी रूप से भारत में वा हर देश में उत्साह की लहर फैलाने के लिए उत्सव बनाये तो अच्छे हैं ना। चाहे दो दिन के लिए हो या एक दिन के लिए हो लेकिन उत्साह की लहर तो फैल जाती है ना, इसलिए उत्सव कहते हैं। फिर भी अल्पकाल के लिए विशेष रूप से बाप के तरफ मैजॉरिटी का अटेन्शन तो जाता है ना। तो इस विशेष दिन पर क्या विशेष करेंगे? जैसे भक्ति में कोई सदाकाल के लिए व्रत लेता है और कोई में हिम्मत नहीं होती है तो एक मास के लिए, एक दिन के लिए या थोड़े समय के लिए लेते हैं। फिर वह व्रत छोड़ देते हैं। आप तो ऐसे नहीं करते हो ना! मधुबन में तो धरनी पर पाँव नहीं है और फिर जब विदेश में जायेंगे तो धरनी पर आयेंगे या ऊपर ही रहेंगे! सदा ऊपर से नीचे आकर कर्म करेंगे या नीचे रहकर कर्म करेंगे? ऊपर रहना अर्थात् ऊपर की स्थिति में रहना। ऊपर कोई छत पर नहीं लटकना है। ऊंची स्थिति में स्थित हो कोई भी साधारण कर्म करना अर्थात् नीचे आना, लेकिन साधारण कर्म करते भी स्थिति ऊपर अर्थात् ऊंची हो। जैसे बाप भी साधारण तन लेता है ना। कर्म तो साधारण ही करेंगे ना, जैसे आप लोग बोलेंगे वैसे ही बोलेंगे। वैसे ही चलेंगे। तो कर्म साधारण है, तन ही साधारण है, लेकिन साधारण कर्म करते भी स्थिति ऊंची रहती। ऐसे आप की भी स्थिति सदा ऊंची हो।

जैसे इस दिन को अवतरण का दिन कहते हो ना, तो रोज़ अमृतवेले ऐसे ही सोचो कि निंद्रा से नही शान्तिधाम से कर्म करने के लिए अवतरित हुए हैं। और रात को कर्म करके शान्तिधाम में चले जाओ। तो अवतार अवतरित होते ही हैं श्रेष्ठ कर्म करने के लिए। उनको जन्म नहीं कहते हैं, अवतरण कहते हैं। ऊपर की स्थिति से नीचे आते हैं – यह है अवतरण। तो ऐसी स्थिति में रहकर कर्म करने से साधारण कर्म भी अलौकिक कर्म में बदल जाते हैं। जैसे दूसरे लोग भी भोजन खाते और आप कहते हो ब्रह्मा भोजन खाते हैं। फर्क हो गया न। चलते हो लेकिन आप फरिश्ते की चाल चलते, डबल लाइट स्थिति में चलते। तो अलौकिक चाल अलौकिक कर्म हो गया। तो सिर्फ आज का दिन अवतरण का दिन नहीं लेकिन संगमयुग ही अवतरण दिवस है।

आज के दिन आप लोग बापदादा को मुबारक देते हो लेकिन बापदादा कहते हैं “पहले आप”। अगर बच्चे नहीं होते तो बाप कौन कहता। बच्चे ही बाप को बाप कहते हैं इसलिए पहले बच्चों को मुबारक। आप सब बर्थ डे का गीत गाते हो ना- हैपी बर्थ डे टू यू… बापदादा भी कहते हैं हैपी बर्थ डे टू यू। बर्थ डे की मुबारक तो बच्चों ने बाप को दी। बाप ने बच्चों को दी। और मुबारक से ही पल रहे हो। आप सबकी पालना ही क्या है? बाप की, परिवार की बधाइयों से ही पल रहे हो। बधाइयों से ही नाचते, गाते, पलते, उड़ते जा रहे हो। यह पालना भी वन्डरफुल है। एक दो को हर घड़ी क्या देते हो? बधाईयाँ हैं और यही पालना की विधि है। कोई कैसा भी है, वह तो बापदादा भी जानते हैं, आप भी जानते हो कि नम्बरवार तो होंगे ही। अगर नम्बरवार नहीं बनते फिर तो सतयुग में कम से कम डेढ़ लाख तख्त बनाने पड़े इसलिए नम्बरवार तो होने ही हैं। तो नम्बरवार होना है लेकिन कभी कोई को अगर आप समझते हैं कि यह रांग है, यह अच्छा काम नहीं कर रहा है, तो रांग को राइट करने की विधि या यथार्थ कर्म नहीं करने वाले को यथार्थ कर्म सिखाने की विधि – कभी भी उसको सीधा नहीं कहो कि तुम तो रांग हो। यह कहने से वह कभी नहीं बदलेगा। जैसे आग बुझाने के लिए आग नहीं जलाई जाती है, उसको ठण्डा पानी डाला जाता है इसलिए कभी भी उसको पहले ही कहा कि तुम रांग हो, तुम रांग हो तो वह और ही दिलशिकस्त हो जायेगा। पहले उसको अच्छा-अच्छा कह करके थमाओ तो सही, पहले पानी तो डालो फिर उसको सुनाओ कि आग क्यों लगी। पहले यह नहीं कहो कि तुम ऐसे हो, तुमने यह किया, यह किया। पहले ठण्डा पानी डालो। पीछे वह भी महसूस करेगा कि हाँ आग लगने का कारण क्या है और आग बुझाने का साधन क्या है। अगर बुरे को बुरा कह देते तो आग में तेल डालते हो। इसीलिए बहुत अच्छा, बहुत अच्छा कह करके पीछे उसको कोई भी बात दो तो उसमें सुनने की, धारण करने की हिम्मत आ जाती है इसलिए सुना रहे थे कि बहुत अच्छा, बहुत अच्छा यही बधाइयां हैं। जैसे बापदादा भी कभी किसको डायरेक्ट रांग नहीं कहेगा, मुरली में सुना देगा – राइट क्या है, रांग क्या है। लेकिन अगर कोई सीधा आकर पूछेगा भी कि मैं रांग हूँ! तो कहेगा नहीं तुम तो बहुत राइट हो क्योंकि उसमें उस समय हिम्मत नहीं होती है। जैसे पेशेन्ट जा भी रहा होता है, आखरी सांस होता है तो भी डाक्टर से अगर पूछेगा कि मैं जा रहा हूँ तो कभी नहीं कहेगा हाँ जा रहे हो क्योंकि उस टाइम हिम्मत नहीं होती। किसकी दिल कमजोर हो और आप अगर उसको ऐसी बात कह दो वह तो हार्टफेल हो ही जायेगा अर्थात् पुरूषार्थ में परिवर्तन करने की शक्ति नहीं आयेगी। तो संगमयुग है ही बधाईयों से वृद्धि को पाने का युग। यह बधाईयाँ ही श्रेष्ठ पालना हैं। इसीलिए आपके इस बधाईयों की पालना का यादगार जब भी कोई देवी देवता का दिन मनाते हैं तो उसको बड़ा दिन कह देते हैं। दीपमाला होगी, शिवरात्रि होगी तो कहेंगे आज बड़ा दिन है। जो भी उत्सव होंगे उसको बड़ा दिन कहेंगे क्योंकि आपकी बड़ी दिल है तो उन्होंने बड़ा दिन कह दिया है। तो एक दो को बधाइयाँ देना यह बड़ी दिल है। समझा – ऐसे नहीं कि रांग को रांग समझायेंगे नहीं, लेकिन थोड़ा धैर्य रखो, इशारा तो देना पड़ेगा लेकिन टाइम तो देखो ना। वह मर रहा है और उसको कहो मर जाओ, मर जाओ…। तो टाइम देखो, उसकी हिम्मत देखो। बहुत अच्छा, बहुत अच्छा कहने से हिम्मत आ जाती है। लेकिन दिल से कहो – ऐसे नहीं बाहर से कहो तो वह समझे कि मेरे को ऐसे ही कह रहे हैं। यह भावना की बात है। दिल का भाव रहम का हो तो उसके दिल को रहम का भाव लगेगा। इसीलिए सदा बधाईयाँ देते रहो। बधाईयाँ लेते रहो। यह बधाई वरदान है। जैसे आज के दिन को गायन करते हैं – शिव के भण्डारे भरपूर… तो आपका गायन है, सिर्फ बाप का नहीं। सदा भण्डारा भरपूर हो। दाता के बच्चे दाता बन जाओ। सुनाया था ना – भक्त है ‘लेवता’और आप हो देने वाले ‘देवता’ तो दाता माना देने वाले। किसी को भी कुछ थोड़ा भी देकर फिर आप उनसे कुछ ले लो तो उसको फील नहीं होगा। फिर कुछ भी उसको मना सकते हो। लेकिन पहले उसको दो। हिम्मत दो, उमंग दिलाओ, खुशी दिलाओ फिर उससे कुछ भी बात मनाने चाहो तो मना सकते हो, रोज उत्सव मनाते रहो। रोज बाप से मिलन मनाना यही उत्सव मनाना है। तो रोज उत्सव है। अच्छा!

चारों ओर के बच्चों को, संगमयुग के हर दिन के अवतरण दिवस की अविनाशी मुबारक हो। सदा बाप समान दाता और वरदाता बन हर आत्मा को भरपूर करने वाले, मास्टर भोलानाथ बच्चों को, सदा याद में रह हर कर्म को यादगार बनाने वाले बच्चों को सदा स्व उन्नति और सेवा की उन्नति में उमंग-उत्साह से आगे बढ़ने वाले श्रेष्ठ बच्चों को, विशेष आज के यादगार दिवस शिवजयन्ती सो ब्राह्मण जयन्ति हीरे तुल्य जयन्ति, सदा सर्व को सुखी बनाने की, सम्पन्न बनाने की जयन्ति की मुबारक और यादप्यार और नमस्ते।

वरदान:- हर शक्ति को आर्डर प्रमाण चलाने वाले मास्टर रचयिता भव
कर्म शुरू करने के पहले जैसा कर्म वैसी शक्ति का आह्वान करो। मालिक बनकर आर्डर करो क्योंकि यह सर्वशक्तियां आपकी भुजा समान हैं, आपकी भुजायें आपके आर्डर के बिना कुछ नहीं कर सकती। आर्डर करो सहन शक्ति कार्य सफल करो तो देखो सफलता हुई पड़ी है। लेकिन आर्डर करने के बजाए डरते हो – कर सकेंगे वा नहीं कर सकेंगे। इस प्रकार का डर है तो आर्डर चल नहीं सकता इसलिए मास्टर रचयिता बन हर शक्ति को आर्डर प्रमाण चलाने के लिए निर्भय बनो।
स्लोगन:- सहारेदाता बाप को प्रत्यक्ष कर सबको किनारे लगाओ।

 

सूचनाः- आज मास का तीसरा रविवार है, सभी राजयोगी तपस्वी भाई बहिनें सायं 6.30 से 7.30 बजे तक, विशेष योग अभ्यास के समय अपने पूर्वज पन के स्वमान में स्थित हो, कल्प वृक्ष की जड़ों में बैठ पूरे वृक्ष को शक्तिशाली योग का दान देते हुए, अपनी वंशावली की दिव्य पालना करें।

TODAY MURLI 16 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 16 August 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 15 August 2019:- Click Here

16/08/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you should have the happiness that the Father who removes your sorrow has come to take you to the land of happiness, that you are going to become princesses in heaven.
Question: Seeing which stage of the children does the Father not worry and why?
Answer: Some children are first-class fragrant flowers. Some don’t have any fragrance at all. The stage of some is very good whereas others are defeated by the storms of Maya. Seeing all of this, the Father does not worry because He knows that the golden-aged kingdom is being established. Nevertheless, the Father gives you the teaching: Children, stay in remembrance as much as possible. Do not be afraid of the storms of Maya.

Om shanti. The sweetest of all, the unlimited Father, sits here and explains to you sweetest children. You understand that the Father is very sweet. Then, the Teacher who gives you teachings is also very sweet. When you sit here, you should remember that Baba is very sweet. You are to receive the inheritance of heaven from Him. You are sitting here in the brothel. The Father is so sweet! You should have happiness in your hearts that the Father will take you to the land of happiness for half the cycle. He is the Remover of Sorrow. Firstly, He is our Baba. Then, He also becomes our Teacher and explains to us the secrets of the whole world cycle. No one else can explain how the cycle turns and how you pass through 84 births. He explains all of this at a snap of His fingers. He will take you back with Him; you are not going to stay here. He will take all souls back with Him. Very few days remain. It is said: A lot of time has gone by and only a little time remains. Therefore, remember Me more frequently and the burden of your accumulated sins of many births will end. There is the war with Maya, so when you try to remember Me, she tries to move you away from that remembrance. Baba warns you about this too. Therefore, never think about it. No matter how many storms of negative and sinful thoughts you have, even if you lose your sleep for the whole night in those thoughts, do not be afraid. Remain courageous! Baba says: Those storms will definitely come. You will have dreams too. Do not be afraid of any of those things. This is a battlefield. Everything is to be destroyed. You battle to conquer Maya. You don’t have to stop breathing etc. for that. While a soul is in a body, breathing takes place. Here, you don’t have to try to stop breathing. In hatha yoga they go through so many difficulties. Baba has experienced that. He used to study that a little, but one also has to have time. Nowadays, people tell you: Your knowledge is good, but we don’t have time. We have so many factories etc. The Father says to you: Sweetest children, first remember the Father and then remember the cycle; that’s all! Is that difficult? It used to be their kingdom in the golden and silver ages. Then there was expansion of those of Islam and the Buddhists etc. Those people (deities) forgot their religion and so could no longer call themselves deities, because they became impure. Deities were pure. However, according to the dramaplan, they then began to be called Hindus. In fact, there is no Hindu religion. The name Hindustan was given to Bharat later. Its real name is Bharat. They say: Salutations to the mothers of Bharat. They do not say, “to the mothers of Hindustan.” Only in Bharat was it the kingdom of those deities. It is only Bharat that is praised. The Father is teaching you children how you have to remember the Father. The Father has come to take you back home. Who? The souls. The more you remember the Father, the purer you become. You will continue to become pure and you won’t then experience punishment. If you have to experience punishment, your status will be reduced. Therefore, the more you remember Baba, the more your sins will continue to be absolved. There are many children who are unable to remember Baba. They get fed up and then leave. They don’t even battle. There are also such children. It is understood that a kingdom is being established. There will even be many who fail. Poor subjects are also needed. In any case, there will be the wealthy and the poor, although there is no sorrow there. This is the iron age. Here, both the wealthy and the poor experience sorrow, whereas both remain happy there. Although there would be the feeling of being wealthy or poor, there is no mention of sorrow. However, it is numberwise. There are no diseases there and the lifespan is also long. You forget this land of sorrow. In the golden age, you won’t even remember sorrow. It is now that the Father reminds you of the land of sorrow and the land of happiness. People say that heaven did exist, but when did it exist and what was it like? They don’t know anything. No one would remember anything of hundreds of thousands of years. The Father says: Yesterday, you had happiness and tomorrow you will have that again. He sits here and looks at the flowers: This flower is good. That one is making this type of effort. That one is not stable. This one has a stone intellect. The Father is not worried about anything. Yes, He realises that you children should study quickly and become wealthy. He has to teach you. You have become the children, but you have to study quickly and become clever. The Father sits here and sees to what extent you study and teach others and what type of flowers you are, because this is a flower garden of living flowers. As soon as you see flowers, you experience so much happiness. You children understand that Baba is giving you the inheritance of heaven. If you continue to remember the Father, your sins will continue to be cut away. Otherwise, there will be punishment experienced and you will then receive a low status. This is called receiving a chapatti after experiencing punishment! Remember the Father in such a way that your sins of many births are cut away. You also have to know the cycle. The cycle continues to turn; it never stops. It continues to move like a louse. A louse moves the slowest. This unlimited drama also moves very slowly; it continues to tick away. Some children have calculated how many minutes and seconds there are in 5000 years and sent that to Baba. If it were hundreds of thousands of years, no one would be able to calculate that. The Father and the children are sitting here. Baba sits here and watches each one. This one remembers Baba so much. He has taken so much knowledge and he explains to others so much. It is very easy. You simply have to give the Father’s introduction. You children have the badge. Tell them: This is Shiv Baba. When people go to Kashi, they remember Him by crying out loudly, “Shiv Baba! Shiv Baba!” You are saligrams. Souls are extremely tiny stars. They have such big parts recorded in them. Souls do not increase or decrease in size. They are never destroyed. Souls are imperishable. They have their parts in the drama recorded in them. A diamond is the strongest of all. Jewellers know that there is no stone harder than that. Just think about a soul, how tiny it is and how such a big part is recorded in it and how it is never erased. There isn’t another soul, there isn’t another human being in this world whom we could call the Father, Teacher and Satguru. That One is the unlimited Father. He is also the Teacher. He gives teachings to everyone: Manmanabhav! He also tells you: When you meet anyone of another religion, ask him: Do you remember Allah? All souls are brothers. The Father is now giving you the teaching: Constantly remember Me alone and your sins will be absolved. The Father alone is the Purifier. Who said this? The soul. Although people sing this, they don’t understand the meaning of it. The Father says: All of you are Sitas and I am Rama. I am the Bestower of Salvation for all the devotees. He grants salvation to all. All of them go to the land of liberation. There is no other religion in the golden age. Only we are there because we are the only ones who claim the inheritance from the Father. Look how many temples there are here! The world is so big and there are so many things in it. There, there will be none of those things. There will just be Bharat. There won’t even be railways. Everything will be destroyed. There is no need for railways there. It will be a small city there. Railways are needed to travel to villages further away. Baba is refreshing you. He continues to explain many different points to you children. Whilst sitting here you have all the knowledge in your intellects. Similarly, the Supreme Father, the Supreme Soul, has all the knowledge recorded in Him and He continues to explain that to you. The Highest on High is the Father, the Ocean of Peace, who resides in the land of peace. We souls also reside there in the sweet home. People beat their heads so much for peace. Sages too are asked how there can be peace of mind. They create so many methods for that. It is remembered: A soul has a mind and an intellect and his original religion is peace. He has no mouth, he has no physical organs and so there would definitely be peace. The residence of us souls is the sweet home where there is complete peace. From there we come into the land of happiness. We are now being transferred to the land of happiness from the land of sorrow. The Father is making us pure. The world is so big. There won’t be all these forests etc. there. There won’t be so many mountains etc. There will just be our kingdom. Just as they make a small model of heaven, similarly, there will be a tiny heaven. Just look at the wonder of what is to happen. The world is so big. Here, they all continue to fight amongst themselves. Then, all of this world will be destroyed and just our kingdom will remain. When everything is destroyed, where will all of this go? It will all go beneath the sea and earth. No name or trace of any of it will remain. Anything that goes into the sea is destroyed within it. The sea completely swallows it. The elements will merge into the elements, dust to dust. Then, the world will be satopradhan. At that time, it is said, “new and satopradhan matter”. You have natural beauty there; you don’t put on lipstick etc. You children should be happy. You become princesses of heaven. If you don’t bathe in knowledge, you won’t become deities. There is no other method. The Father is ever beautiful. You souls have become ugly. The Beloved is the very beautiful Traveller. He comes and makes you beautiful. The Father says: I have entered this one. I never become ugly. You are ugly and are becoming beautiful. It is only the one Traveller who is always beautiful. This Baba becomes ugly and then beautiful. That One makes all of you beautiful and takes you back with Him. You children have to become beautiful and also make others beautiful. The Father doesn’t become ugly and beautiful. They have made a mistake in the Gita in that they have put Krishna’s name instead of the Father’s name. That is called the one mistake. It is Shiv Baba who makes the world beautiful but, instead of His name, they have inserted the name of the one who becomes the first beautiful one in heaven. No one understands this. Bharat will become beautiful again. Those people think that there will be heaven after 40,000 years, whereas you explain that the whole cycle is only 5000 years. The Father is now speaking to you souls. He says: I am the Beloved for half the cycle. You have been calling out to Me: O Purifier, come! Come and make us souls, us lovers, pure! So, you have to follow His directions. You have to make effort. Baba doesn’t tell you not to do business etc. No, you have to do everything. Whilst staying at home with your families and looking after your children, simply consider yourselves to be souls and remember Me because I am the Purifier. You may look after your children, but do not have any more children. Otherwise, you will continue to remember them. Whilst having all of them, you have to forget them. Whatever you see is all to be destroyed. Bodies will be destroyed and souls will become pure by having remembrance of the Father. Then you will receive new bodies. This is unlimited renunciation. When a father builds a new home, their hearts move away from the old home. What will there not be in heaven! There is limitless happiness. Heaven will be here. There is a complete memorial in the Dilwala Temple. You are shown doing tapasya down below, so where can heaven be shown? They have shown heaven on the ceiling. Down below, you are doing Raja Yoga tapasya and up above is the royal status. The temple is so beautiful. Near the top of the mountain, there is Achalghar, where there are golden idols and even higher than that is Guru Shikhar. The Guru is sitting at the highest point of all. The Highest on High is the Satguru and in the middle they have shown heaven. So that Dilwala Temple is an accurate memorial. You study Raja Yoga and then heaven will be here. Deities used to exist here. The pure world is now being created for them. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. While seeing everything with those eyes, practise forgetting it. Remove your heart from the old home and the old world. Remember your new home.
  2. Bathe in knowledge and become a beautiful princess. Just as the Father is the beautiful Traveller, similarly, make the soul beautiful from ugly by having remembrance of Him. Do not be afraid of your war with Maya. You will definitely become victorious.
Blessing: May you be master knowledge-fulland remain safefrom any attack of old sanskars by keeping attitude of unlimited disinterest.
Because of old sanskars, there are obstacles in service and relationships and connections. Sanskars pull you to themselves in different ways. When there is an attraction to someone, there cannot be disinterest. If there is even a hidden trace of sanskars, it will take the form of their progeny according to the time and keep you under an external influence. Therefore, be knowledge-full, and keep an attitude of unlimited disinterest and you will be free from any attack of old sanskars, relationships and material comforts and remain safe.
Slogan: Be fearless of Maya and humble in relationships with one another.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 16 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 August 2019

To Read Murli 15 August 2019:- Click Here
16-08-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें खुशी होनी चाहिए कि दु:ख हरने वाला बाबा हमें सुखधाम में ले जाने आया है, हम स्वर्ग के परीज़ादे बनने वाले हैं”
प्रश्नः- बच्चों की किस स्थिति को देखते हुए बाप को चिन्ता नहीं होती – क्यों?
उत्तर:- कोई-कोई बच्चे फर्स्ट क्लास खुशबूदार फूल हैं, कोई में ज़रा भी खुशबू नहीं है। कोई की अवस्था बहुत अच्छी रहती, कोई माया के तूफानों से हार खा लेते, यह सब देखते हुए भी बाप को चिंता नहीं होती क्योंकि बाप जानते हैं यह सतयुग की राजधानी स्थापन हो रही है। फिर भी बाप शिक्षा देते हैं – बच्चे, जितना हो सके याद में रहो। माया के तूफानों से डरो नहीं।

ओम् शान्ति। मीठे ते मीठा बेहद का बाप मीठे-मीठे बच्चों को बैठ समझाते हैं। यह तो समझते हो ना बहुत मीठा-मीठा बाप है। फिर शिक्षा देने वाला टीचर भी बहुत मीठा-मीठा है। यहाँ तुम जब बैठते हो तो यह याद होना चाहिए बहुत मीठा-मीठा बाबा है, उनसे स्वर्ग का वर्सा मिलना है। यहाँ तो वेश्यालय में बैठे हो। कितना मीठा बाप है। वह खुशी दिल में होनी चाहिए। बाप हमको आधाकल्प सुखधाम में ले जाने वाला है। दु:ख हरने वाला है। एक तो ऐसा बाबा है, फिर बाबा टीचर भी बनते हैं। हमको सारे सृष्टि चक्र का राज़ समझाते हैं, जो और कोई नहीं समझा सकते। यह चक्र कैसे फिरता है, 84 जन्म कैसे पास होते हैं – यह सारा चपटी में समझाते हैं। फिर साथ में भी ले जायेंगे। यहाँ तो रहना नहीं है। सभी आत्माओं को साथ ले जायेंगे। बाकी थोड़े रोज़ हैं। कहा जाता है बहुत गई थोड़ी रही…….। बाकी थोड़ा समय है इसलिए जल्दी-जल्दी मुझे याद करो तो तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के पापों का बोझा जो जमा है, वह खलास हो। भल माया की युद्ध चलती है। तुम मुझे याद करेंगे, वह याद करने से हटायेगी, यह भी बाबा बता देते हैं, इसलिए कभी विचार नही करना। कितने भी संकल्प, विकल्प, तूफान आयें, सारी रात संकल्पों में नींद फिट जाये तो भी डरना नहीं है। बहादुर रहना है। बाबा कह देते हैं यह आयेंगे जरूर। स्वप्न भी आयेंगे, इन सब बातों में डरना नहीं है। युद्ध का मैदान है ना। यह सब विनाश हो जाने हैं। तुम युद्ध करते हो माया को जीतने के लिए, बाकी इसमें कोई श्वास आदि बन्द नहीं करना है। आत्मा जब शरीर में होती है तो श्वास चलता है। इसमें श्वास आदि बन्द करने की भी कोशिश नहीं करनी है। हठयोग आदि में कितनी तकलीफ करते हैं। बाबा को अनुभव है। थोड़ा-थोड़ा सीखते थे, परन्तु फुर्सत भी हो ना। जैसे आजकल तुमको कहते हैं ज्ञान तो अच्छा है परन्तु फुसर्त कहाँ, इतने कारखाने हैं, यह है…….। तुमको बाप कहते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, एक तो बाप को याद करो और चक्र याद करो, बस। क्या यह डिफीकल्ट है?

सतयुग-त्रेता में इन्हों का राज्य था फिर इस्लामी, बौद्धी आदि की वृद्धि होती गई। वह अपने धर्म को भूल गये। अपने को देवी-देवता कह न सकें क्योंकि अपवित्र बन पड़े। देवतायें तो पवित्र थे। ड्रामा के प्लैन अनुसार फिर वह हिन्दु कहलाने लग पड़ते हैं। वास्तव में हिन्दु धर्म तो है नहीं। हिन्दुस्तान तो नाम बाद में पड़ा है। असली नाम भारत है। कहते हैं भारत माताओं की जय। हिन्दुस्तान की मातायें थोड़ेही कहते हैं। भारत में ही इन देवताओं का राज्य था। भारत की ही महिमा करते हैं। तो बाप बच्चों को सिखला रहे हैं, बाप को कैसे याद करना है। बाप आये ही हैं घर ले चलने के लिए। किसको? आत्माओं को। तुम जितना बाप को याद करते हो, उतना तुम पवित्र बनते हो। पवित्र बनते जायेंगे तो फिर सजा भी नहीं खायेंगे। अगर सजायें खाई तो पद कम हो जायेगा इसलिए जितना याद करेंगे उतना विकर्म विनाश होते रहेंगे। बहुत बच्चे हैं जो याद कर नहीं सकते। तंग होकर छोड़ देते हैं, युद्ध करते नहीं हैं। ऐसे भी हैं। समझा जाता है राजधानी स्थापन होनी है। नापास भी बहुत होंगे। गरीब प्रजा भी चाहिए ना। भल वहाँ दु:ख नहीं होता है, परन्तु गरीब और साहूकार तो हर हालत में होंगे। यह है कलियुग, यहाँ साहूकार वा गरीब दोनों दु:ख भोगते हैं। वहाँ दोनों सुखी रहते हैं। परन्तु गरीब साहूकार की भासना तो रहेगी। दु:ख का नाम नहीं होगा। बाकी नम्बरवार तो होते ही हैं। कोई रोग नहीं, आयु भी बड़ी होती है। इस दु:खधाम को भूल जाते हैं। सतयुग में तुमको दु:ख याद भी नहीं होगा। दु:खधाम और सुखधाम की याद अभी बाप दिलाते हैं। मनुष्य कहते हैं स्वर्ग था परन्तु कब था, कैसा था? कुछ नहीं जानते। लाखों वर्ष की बात तो कोई को भी याद आ न सके। बाप कहते हैं कल तुमको सुख था, कल फिर होगा। तो यहाँ बैठ फूलों को देखते हैं। यह अच्छा फूल है, यह इस प्रकार की मेहनत करते हैं। यह स्थेरियम नहीं है, यह पत्थरबुद्धि है। बाप को कोई बात की चिंता नहीं रहती। हाँ, समझते हैं बच्चे जल्दी पढ़कर साहूकार हो जायें, पढ़ाना भी है। बच्चे तो बने हैं परन्तु जल्दी पढ़कर होशियार हों और वह भी कहाँ तक पढ़ते और पढ़ाते हैं, कैसे फूल हैं – यह बाप बैठ देखते हैं क्योंकि यह है चैतन्य फूलों का बगीचा। फूलों को देखते भी कितनी खुशी होती है। बच्चे खुद भी समझते हैं बाबा स्वर्ग का वर्सा देते हैं। बाप को याद करते रहेंगे तो पाप कटते जायेंगे। नहीं तो सज़ा खाकर फिर पद पायेंगे। उसको कहा जाता है – मानी और मोचरा। बाप को ऐसा याद करो जो जन्म-जन्मान्तर के पाप कट जायें। चक्र को जानना भी है। चक्र फिरता रहता, कब बन्द नहीं होता। जूं मिसल चलता रहता है, जूँ सबसे आहिस्ते चलती है। यह बेहद का ड्रामा भी बहुत आहिस्ते चलता है। टिक-टिक होती रहती है। 5 हजार वर्ष में सेकेण्ड्स, मिनट कितने होते, वह हिसाब भी बच्चों ने निकाल कर भेजा है। लाखों वर्ष की बात होती तो कोई भी हिसाब निकाल न सके। यहाँ बाप और बच्चे बैठे हैं। बाबा एक-एक को बैठ देखते हैं – यह बाबा को कितना याद करते हैं, कितना ज्ञान उठाया है, औरों को कितना समझाते हैं। है बहुत सहज, सिर्फ बाप का परिचय दो। बैज तो बच्चों के पास है ही। बोलो, यह है शिवबाबा। काशी में जाओ तो भी शिवबाबा-शिवबाबा कह याद करते, रड़ी मारते हैं। तुम हो सालिग्राम। आत्मा बिल्कुल छोटा सितारा है, उसमें कितना पार्ट भरा हुआ है। आत्मा घटती-बढ़ती नहीं, विनाश नहीं होती। आत्मा तो अविनाशी है, उसमें ड्रामा का पार्ट भरा हुआ है। हीरा सबसे मजबूत होता है, उस जैसा सख्त पत्थर कोई होता नहीं। जौहरी लोग जानते हैं। आत्मा का विचार करो, कितनी छोटी है, उनमें कितना पार्ट भरा हुआ है! जो कभी भी घिसता नहीं है। दूसरी आत्मा होती नहीं। इस दुनिया में ऐसा कोई मनुष्य नहीं जिसको हम बाप, टीचर, सतगुरू कहें। यह एक बेहद का बाप है, शिक्षक है सबको शिक्षा देते हैं, मनमनाभव। तुमको भी कहते हैं कि कोई धर्म वाले मिलें, उनको कहो अल्लाह को याद करते हो ना। आत्मायें सब भाई-भाई हैं। अब बाप शिक्षा देते हैं कि मामेकम् याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। बाप ही पतित-पावन है। यह किसने कहा? आत्मा ने। मनुष्य भल गाते हैं परन्तु अर्थ नहीं समझते हैं।

बाप कहते हैं – तुम सब सीतायें हो। मैं हूँ राम। सब भक्तों का सद्गति दाता मैं हूँ। सबकी सद्गति कर देते हैं। बाकी सब मुक्तिधाम में चले जाते हैं। सतयुग में दूसरा धर्म कोई होता नहीं, सिर्फ हम ही होते हैं क्योंकि हम ही बाप से वर्सा लेते हैं। यहाँ तो देखो कितने ढेर के ढेर मन्दिर हैं। कितनी बड़ी दुनिया है, क्या-क्या चीजें हैं। वहाँ यह कुछ भी नहीं होगा। सिर्फ भारत ही होगा। यह रेल आदि भी नहीं होगी। यह सब खत्म हो जायेंगे। वहाँ रेल की दरकार ही नहीं। छोटा शहर होगा। रेल तो चाहिए दूर-दूर गांव में जाने के लिए। बाबा रिफ्रेश कर रहे हैं, भिन्न-भिन्न प्वाइंट्स समझाते रहते हैं बच्चों के लिए। यहाँ बैठे हो, बुद्धि में सारा ज्ञान है। जैसे परमपिता परमात्मा में सारा ज्ञान भरा हुआ है, जो तुमको समझाते रहते हैं। ऊंच ते ऊंच शान्तिधाम में रहने वाला शान्ति का सागर बाप है। हम आत्मायें भी सब वहाँ स्वीट होम में रहने वाली हैं। शान्ति के लिए मनुष्य कितना माथा मारते हैं। साधू लोग भी कहते मन को शान्ति कैसे मिले। क्या-क्या युक्ति रचते हैं। गाया जाता है – आत्मा तो मन बुद्धि सहित है, उनका स्वधर्म है ही शान्त। मुख ही नहीं, कर्मेन्द्रियां ही नहीं तो जरूर शान्त ही होगी। हम आत्माओं का निवास स्थान है स्वीट होम, जहाँ बिल्कुल शान्ति रहती है। फिर वहाँ से पहले हम आते हैं सुखधाम में। अभी तो इस दु:खधाम से ट्रांसफर होते हैं सुखधाम में। बाप पावन बना रहे हैं। कितनी बड़ी दुनिया है। इतने जंगल आदि कुछ भी वहाँ नहीं होंगे। इतनी पहाड़ियाँ आदि कुछ नहीं होंगी। हमारी राजधानी होगी। जैसे स्वर्ग का छोटा-सा मॉडल बनाते हैं वैसे छोटा-सा स्वर्ग होगा। क्या होना है। वन्डर देखो! कितना बड़ी सृष्टि है, यहाँ तो सब आपस में लड़ते रहते हैं। फिर इतनी सारी दुनिया खत्म हो जायेगी, बाकी हमारा राज्य रहेगा। इतना सब कुछ खत्म हो, यह सब कहाँ जायेंगे। समुद्र धरती आदि में चले जायेंगे। इनका नाम-निशान भी नहीं रहेगा। समुद्र में जो चीज़ जाती है, वह अन्दर ही खत्म हो जाती है। सागर हप कर लेता है। तत्व तत्व में, मिट्टी मिट्टी में मिल जाती है। फिर दुनिया ही सतोप्रधान होती है, उस समय कहा जाता है नई सतोप्रधान प्रकृति। तुम्हारी वहाँ नेचुरल ब्युटी रहती है। लिपिस्टिक आदि कुछ भी नहीं लगाते। तो तुम बच्चों को खुश होना चाहिए। तुम स्वर्ग के परीज़ादे बनते हो।

ज्ञान स्नान नहीं करेंगे तो तुम देवता बनेंगे नहीं। और कोई उपाय है नहीं। बाप तो है सदा खूबसूरत, तुम आत्मायें सांवरी बन गई हो। माशूक तो बड़ा सुन्दर मुसाफिर है जो आकर तुमको सुन्दर बनाते हैं। बाप कहते हैं मैंने इसमें प्रवेश किया है। मैं तो कभी सांवरा नहीं बनता हूँ। तुम सांवरे से सुन्दर बनते हो। सदा सुन्दर तो एक ही मुसाफिर है। यह बाबा सांवरा और सुन्दर बनते हैं। तुम सबको सुन्दर बनाकर साथ में ले जाते हैं। तुम बच्चों को सुन्दर बन फिर और सबको सुन्दर बनाना है। बाप तो श्याम-सुन्दर बनते नहीं। गीता में भूल कर दी है, जो बाप के बदले कृष्ण का नाम डाल दिया है, इसको ही कहा जाता है – एकज़ भूल। सारे विश्व को सुन्दर बनाने वाला शिवबाबा उनके बदले जो स्वर्ग का पहला नम्बर सुन्दर बनता है, उनका नाम डाल दिया है, यह कोई समझते थोड़ेही हैं। भारत फिर सुन्दर बनने का है। वह तो समझते हैं 40 हजार वर्ष बाद स्वर्ग बनेगा और तुम बताते हो सारा कल्प ही 5 हज़ार वर्ष का है। तो बाप आत्माओं से बात करते हैं। कहते हैं मैं आधाकल्प का माशूक हूँ। तुम मुझे पुकारते आये हो – हे पतित-पावन आओ, आकर हम आत्माओं, आशिकों को पावन बनाओ। तो उनकी मत पर चलना चाहिए। मेहनत करनी चाहिए। बाबा ऐसे नहीं कहते कि तुम धन्धा आदि नहीं करो। नहीं, वह सब कुछ करना है। गृहस्थ व्यवहार में रहते, बाल बच्चों आदि को सम्भालते सिर्फ अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो क्योंकि मैं पतित-पावन हूँ। बच्चों की सम्भाल भल करो बाकी अभी और बच्चे पैदा नहीं करो। नहीं तो वह याद आते रहेंगे। इन सबके होते हुए भी इनको भूल जाना है। जो कुछ तुम देखते हो यह सब खत्म हो जाने वाले हैं। शरीर खत्म हो जायेगा। बाप की याद से आत्मा पवित्र बन जायेगी तो फिर शरीर भी नया मिलेगा। यह है बेहद का सन्यास। बाप नया घर बनाते हैं, तो फिर पुराने घर से दिल हट जाती है। स्वर्ग में क्या नहीं होगा, अपार सुख हैं। स्वर्ग तो यहाँ होता है। देलवाड़ा मन्दिर भी पूरा यादगार है। नीचे तपस्या कर रहे हैं, फिर स्वर्ग कहाँ दिखावें? वह फिर छत में रख दिया है। नीचे राजयोग की तपस्या कर रहे हैं, ऊपर राज्य पद खड़ा है। कितना अच्छा मन्दिर है। ऊपर है अचलघर, सोने की मूर्तियां हैं। उनसे ऊपर है फिर गुरू शिखर। गुरू सबसे ऊपर बैठा है। ऊंच ते ऊंच है सतगुरू। फिर बीच में दिखाया है स्वर्ग। तो यह देलवाड़ा मन्दिर पूरा यादगार है, राजयोग तुम सीखते हो फिर स्वर्ग यहाँ होगा। देवतायें यहाँ थे ना। परन्तु उनके लिए पावन दुनिया अब बन रही है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इन आंखों से सब कुछ देखते हुए इसे भूलने का अभ्यास करना है। पुराने घर से, दुनिया से दिल हटा लेनी है। नये घर को याद करना है।

2) ज्ञान स्नान कर सुन्दर परीज़ादा बनना है। जैसे बाप सुन्दर गोरा मुसाफिर है, ऐसे उनकी याद से आत्मा को सांवरे से गोरा बनाना है। माया की युद्ध से डरना नहीं है, विजयी बनकर दिखाना है।

वरदान:- बेहद की वैराग्य वृत्ति द्वारा पुराने संस्कारों के वार से सेफ रहने वाले मास्टर नॉलेजफुल भव
पुराने संस्कारों के कारण सेवा में वा सम्बन्ध-सम्पर्क में विघ्न पड़ते हैं। संस्कार ही भिन्न-भिन्न रूप से अपनी तरफ आकर्षित करते हैं। जहाँ किसी भी तरफ आकर्षण है वहाँ वैराग्य नहीं हो सकता। संस्कारों का छिपा हुआ अंश भी है तो समय प्रमाण वंश का रूप ले लेता है, परवश कर देता है इसलिए नॉलेजफुल बन, बेहद की वैराग्य वृत्ति द्वारा पुराने संस्कारों, संबंधों, पदार्थों के वार से मुक्त बनो तो सेफ रहेंगे।
स्लोगन:- माया से निर्भय बनो और आपसी संबंधों में निर्माण बनो।

BRAHMA KUMARIS MURLI 16 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 16 August 2018

To Read Murli 15 August 2018 :- Click Here
16-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – ज्ञान की धारणा तब होगी जब देही-अभिमानी बनेंगे, देही-अभिमानी बनने वाले बच्चों को ही बाप की याद रहेगी।”
प्रश्नः- किस एक भूल के कारण मनुष्यों ने आत्मा को निर्लेप कह दिया है?
उत्तर:- मनुष्यों ने आत्मा सो परमात्मा कहा, इसी भूल के कारण आत्मा को निर्लेप मान लिया लेकिन निर्लेप तो एक शिवबाबा है, जिसे दु:ख-सुख, मीठे-कड़ुवे का अनुभव नहीं। आत्मा तो कहती है फलानी चीज़ खट्टी है। बाप कहते हैं मेरे पर किसी भी चीज़ का असर नहीं होता है, मैं इन लेप-छेप से निर्लेप हूँ, ज्ञान का सागर हूँ, वही ज्ञान तुम्हें सुनाता हूँ।
गीत:- तकदीर जगाकर आई हूँ…….. 

ओम् शान्ति। यह किसने कहा? आत्माओं ने कहा इन आरगन्स द्वारा। आत्मा शान्त स्वरूप है। मुझ आत्मा को यह शरीर मिलता है, तब टॉकी बनती हूँ। शरीर द्वारा अनेक प्रकार का कर्म करती हूँ। पहले-पहले यह निश्चय करना है। और सतसंग में मनुष्य, मनुष्य को सुनाते हैं, देहधारी बोलते हैं। कहेंगे फलाना महात्मा बैठा है। यहाँ यह बातें नहीं हैं। तुम समझते हो हम तो आत्मा हैं, यह शरीर रूपी आरगन्स हैं। आत्मा परमपिता परमात्मा द्वारा सुन रही है, जिसका एक ही नाम है शिव। इस समय बच्चे बैठे हैं सुनने लिए। कौन सुनाते हैं? बेहद का बाप। जब परमपिता परमात्मा कहा जाता है तो बुद्धियोग ऊपर चला जाता है। शिव माना बिन्दी। आत्मा भी बिन्दी है, परमात्मा भी बिन्दी है। परन्तु उनको परमपिता परमात्मा कहा जाता है। वह बाप हुआ और आत्मायें बच्चे ठहरे। समझना है कि हम आत्मा इस शरीर द्वारा अपने पारलौकिक बाप की सन्तान बनी हूँ। तुम बच्चों को देही-अभिमानी बनना पड़े। और सब जगह मनुष्य, मनुष्य को समझाते हैं। कोई गीता पाठी होते हैं वह भी गीता को याद कर कहेंगे गीता में भगवान् ने ऐसे-ऐसे कहा है। समझते हैं भगवान् ने साकार में यह गीता सुनाई थी। कोई बैठ वेद-शास्त्र सुनाते हैं। वेद तो मनुष्यों ने रचे हैं। निराकार भगवान् वेद नहीं बनायेंगे। व्यास तो मनुष्य था। व्यास को परमात्मा नहीं कहेंगे। परमपिता परमात्मा तो बिन्दी है। बच्चे साकार में हैं, साकारी रूप है। बाप तो है निराकार।

बाप कहते हैं मुझे तो कभी छोटा-बड़ा नहीं बनना है। तुम छोटे-बड़े होते हो। मुझे तो कहते ही हैं परमपिता। मनुष्य पहले बालक बन फिर बड़े हो बाप बनते हैं, फिर बालक बनते हैं। मैं तो हमेशा पिता ही हूँ, मैं बालक नहीं बनता हूँ। मेरा एक ही नाम शिव है। तुम्हारे 84 नाम पड़ते हैं क्योंकि 84 जन्म लेते हो। मैं परमपिता तो बिन्दी रूप हूँ। सिर्फ पूजा के लिए भक्ति मार्ग वालों ने बड़ा रूप बनाकर रखा है। जैसे कोई का बड़ा चित्र बनाते हैं ना। बुद्ध का बहुत बड़ा चित्र बनाते हैं। इतना लम्बा मनुष्य तो होता नहीं। यह मान देते हैं। समझते हैं बहुत बड़ा था। बाप तो ऊंचे ते ऊंच है, बड़े ते बड़ा परमपिता परम आत्मा। बाप अपना परिचय बैठ देते हैं – मेरे को शिव कहते हैं। बच्चों को समझाया जाता है – तुमको समझना है हम निराकार शिवबाबा के सम्मुख जाते हैं। मुझे तो हमेशा परमपिता परमात्मा ही कहेंगे। मनुष्य सृष्टि का बीजरूप हूँ। परम आत्मा बैठ समझाते हैं। आत्मा को ही नॉलेज है। गाते भी हैं परमपिता परम आत्मा (परमात्मा), वह ज्ञान का सागर है। हमको ज्ञान सुना रहे हैं। पहले-पहले आत्म-अभिमानी होना चाहिए। देह-अभिमानी नहीं बनना है। परन्तु ड्रामा अनुसार तुमको देह-अभिमानी बनना ही है। अब फिर बाप देही-अभिमानी बनाते हैं।

तुम सब बच्चे हो। यह भी बच्चा है। आत्मा परमपिता परमात्मा दादे से वर्सा लेती है। लौकिक सम्बन्ध में सिर्फ बच्चों को ही वर्सा मिलता है, कन्या को नहीं मिलता है। बेहद का बाप कहते हैं तुम सब आत्मायें हो, तुम हर एक को हक है। तुम मुझ परमपिता परमात्मा के थे और हो। कहते हैं ना ओ गॉड फादर, ओ परमपिता परमात्मा। महिमा करते हैं। कौन करते हैं? आत्मा। वह लौकिक फादर तो शरीर का है, यह है आत्माओं का बाप। आत्मा बुलाती है ओ परमपिता परमात्मा। अविनाशी बाप को याद करते ही आये हैं क्योंकि रावण राज्य में दु:ख ही दु:ख है। जब से रावण राज्य शुरू होता है तब से याद करना शुरू होता है। याद तो बाप को ही करना है क्योंकि वर्सा बाप से ही मिलता है। यहाँ तो मनुष्यों को बहुतों की याद रहती है। गुरू लोग एक की याद भुला देते हैं। अगर सर्वव्यापी है तो फिर गॉड वा फादर किसको कहें? बाप घड़ी-घड़ी कहते हैं – बच्चे, देही-अभिमानी बनो, उठते-बैठते मुझ बाप को याद करो। समझो, हम श्रीमत पर चल रहे हैं। मैं आत्मा खा रही हूँ बाबा की याद में। याद से विकर्म विनाश होंगे। मंज़िल है बड़ी भारी। योग कोई मासी का घर नहीं है। मनुष्यों ने तो बाप का नाम ही प्राय:लोप कर दिया है। श्री कृष्ण तो बच्चा ठहरा। इतनी बड़ी प्रालब्ध जरूर बाप ने ही दी है।

बाप समझाते हैं – देह सहित देह के सब धर्म भूल जाओ। यह नाम तो सब बाद में रखे गये हैं। तो यह समझना है कि परमपिता परमात्मा द्वारा हम यह नॉलेज पढ़ रहे हैं। और कोई ऐसे स्कूल नहीं हैं जहाँ समझें कि हम आत्मा हैं। तुम जानते हो पहले सतोप्रधान थे फिर सतो, रजो, तमो में आते हैं। खाद आत्मा में पड़ती है। मेरे में तो कभी खाद नहीं पड़ती। मैं एवर सच्चा सोना हूँ। तुम्हारी आत्मायें सब इस समय आइरन एजेड बन गई हैं। मम्मा भी कहेगी – हमने शिवबाबा से जो सुना है, वही सुनाते हैं। शिवबाबा तो खुद ज्ञान का सागर है। यह बड़ी समझ की बातें हैं। बरोबर हम बाबा के बने हैं, वह हमें पढ़ाते हैं। बाबा से पढ़कर हम जीवनमुक्त बनते हैं। जीवनमुक्त माना इस शरीर में तो आना है, परन्तु सुख भोगना है। मुक्ति सबको मिलती है परन्तु जीवनमुक्ति में तो नम्बरवार आते हैं। मुक्त तो सब आत्मायें होती हैं। दु:ख से आधाकल्प के लिए मुक्त कर देते हैं। कहते हैं तुमको लिबरेट कर जीवनमुक्त बनाता हूँ। फिर कोई कितने जन्म लेते, कोई कितने जन्म लेते हैं। जीवनमुक्त तो सब बनते हैं। सद्गति दाता है ही एक। जो भी धर्म स्थापक हैं, सब पुनर्जन्म लेते-लेते अब तमोप्रधान बने हैं। मैं आकर सबको इन दु:खों से छुड़ाता हूँ इसलिए मुझे लिबरेटर कहते हैं, मुक्ति-जीवनमुक्ति दाता कहते हैं। मुक्ति अर्थात् अपने घर साइलेन्स धाम में जाना। बाप भी परमधाम से आते हैं, जिसको परलोक कहा जाता है। तुम निर्वाणधाम और स्वर्गधाम दोनों को याद करते हो। स्वर्ग और नर्क यहाँ ही होता है। इस समय सब समझते हैं – यह नर्क है। कितना दु:ख पाते रहते हैं। गरूड़ पुराण में तो बहुत रोचक बातें लिख दी हैं जिससे मनुष्यों को डर हो और पाप करने से बच जायें इसलिए ऐसी-ऐसी बातें बैठ बनाई हैं। द्वापर से यह शास्त्र बनाना शुरू करते हैं। बाप कहते हैं मैं आकर ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण धर्म रचता हूँ। वह फिर सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी बनते हैं। दो युग में कोई धर्म स्थापन करने वाला नहीं आता है, फिर एक-दो के पीछे सब नम्बरवार आते हैं और अपने-अपने धर्म को जानते हैं। यह देवी-देवता धर्म प्राय:लोप हो जायेगा फिर अपने को देवता कहला नहीं सकेंगे। पतित कैसे श्री श्री अथवा श्रेष्ठ कहलायेंगे? बाप ही श्रेष्ठ बनाते हैं। देवी-देवताओं को श्रेष्ठ कहा जाता है। उनके चित्र भी हैं परन्तु समझते नहीं कि देवी-देवता धर्म कब था, किसने स्थापन किया? सतयुग की आयु ही लम्बी कर दी है।

अब बाबा कहते हैं – बच्चे, अपने को आत्मा समझो, बाप को याद करो। अब खेल पूरा होता है। देखते नहीं हो अब मुक्ति-जीवनमुक्ति के गेट्स खुल रहे हैं? मुक्ति-जीवनमुक्ति दाता तो एक ही है। यहाँ तो देखो जगत माता का टाइटिल भी कोई-कोई को देते रहते हैं। वास्तव में जगत अम्बा यह है ना। ऐसे कोई भी नहीं होगा जो जगत पिता भी हो, शिक्षक भी हो, जगत गुरू भी हो। भल मनुष्य अपने पर नाम बहुत रखाते हैं, परन्तु हैं नहीं। कहाँ वह लक्ष्मी-नारायण, कहाँ यह विकारी भी अपने ऊपर टाइटिल रख देते हैं। मनुष्य कितने बुद्धू बन गये हैं! आदि सनातन देवी-देवता धर्म को भूल उन्हों के टाइटल फिर अपने को दे देते हैं। वास्तव में ऊंच ते ऊंच मर्तबा तो एक का ही है, सद्गति दाता एक ही है। राम कहो तो भी वह एक ही निराकार ठहरा।

बाप कहते हैं भारतवासियों को अपने धर्म का पता नहीं – कब और किसने स्थापन किया? कोई किस देवी को याद करते, कोई कृष्ण को, कोई गुरू को याद करते। गुरू का फोटो भी लगा देते हैं। तुम्हारा चित्र से काम नहीं। जिसका कोई चित्र नहीं, वह है विचित्र। आत्मा विचित्र है। जैसे बाप विचित्र है वैसे बच्चे भी विचित्र हैं। आत्मा ही सुनती है। बाबा ने यह तन लोन लिया है। कहते हैं प्रकृति के आधार बिगर मैं ज्ञान कैसे दूँ? राजयोग कैसे सिखलाऊं? भगवान् निराकार को ही कहा जाता है। उनको आना ही है पतित दुनिया में। कृष्ण को दिखाते हैं कि पीपल के पत्ते पर सागर में आया, ऐसी कोई बात नहीं है। कृष्ण तो फर्स्ट प्रिन्स है विश्व का। वहाँ और कोई धर्म नहीं। अद्वेत राज्य है, फिर द्वेत हो जाती है, फिर अनेक प्रकार के धर्म स्थापन होते जाते हैं। तो बच्चों को यह समझना है कि बाबा इस शरीर में आकर हमको पढ़ाते हैं। बाबा कहते हैं मैं अशरीरी हूँ, इस शरीर द्वारा तुमको ज्ञान देता हूँ। मैं हूँ ज्ञान का सागर। यह सब बातें बाप बैठ समझाते हैं। सिर्फ ईश्वर वा परमात्मा कहने से बाप का सम्बन्ध भूल जाता है। परमात्मा बाप है, उनसे वर्सा मिलता है – यह भूल जाते हैं। वह हमारा बाप है, क्रियेटर है, हम उनकी रचना हैं। उसने क्रियेट किया है। कोई तो रचता होगा ना। बाबा ने समझाया है – पुरुष हद का ब्रह्मा है। बच्चों को क्रियेट करते हैं। पहले स्त्री को एडाप्ट करते हैं फिर उनके द्वारा बच्चे क्रियेट करते हैं। बाबा भी कहते हैं मैं इन द्वारा क्रियेट करता हूँ। स्त्री तो जरूर चाहिए ना। बाबा को कहते ही हैं तुम मात-पिता, तो यह (ब्रह्मा) माता हो गई, इन द्वारा एडाप्ट करते हैं। तो तुमको ब्रह्मा मुख वंशावली कहेंगे। तुम बाप के बने हो इन द्वारा। यह बड़ी वन्डरफुल बातें हैं। शास्त्रों में यह नहीं है। मुझे कहते हैं नॉलेजफुल, जानीजाननहार। मनुष्य समझते हैं परमात्मा सबके अन्दर की बातें जानते हैं, थॉट रीडर हैं। लेकिन इतने सबका थॉट रीडर कैसे बनेगा? बाप कहते हैं मैं मनुष्य सृष्टि का बीजरूप हूँ। मैं चैतन्य हूँ, सत हूँ। आत्मा भी चैतन्य है। शरीर असत है, घड़ी-घड़ी बदलता रहता है। आत्मा तो नहीं मरती। आत्मा यह नॉलेज ग्रहण करती है।

बाप समझाते हैं मैं परमपिता परमात्मा निर्लेप हूँ अर्थात् दु:ख-सुख का अथवा कड़ुवी-मीठी चीज़ का मुझे कोई असर नहीं होता है। मैं इन लेप-छेप से निर्लेप हूँ। ज्ञान का सागर हूँ। मनुष्य फिर कहते हैं कि आत्मा निर्लेप है क्योंकि आत्मा सो परमात्मा एक है। एक ने कहा – बस, उसके पीछे फॉलो करते रहते। बाप कहते हैं मैं निर्लेप हूँ। मुझे कोई खट्टा खारा नहीं लगता। यह इनकी आत्मा कहती है – फलानी चीज़ खट्टी है। मेरे में सारे सृष्टि का ज्ञान है जो आत्माओं को पढ़ाता हूँ। तुम हर एक को समझना है – हम आत्मा परमपिता परमात्मा द्वारा सुन रहे हैं। यहाँ तो बरोबर भगवानुवाच है। निश्चय करना चाहिए – गॉड क्रियेटर इज़ वन।

पहले-पहले मुख्य बात है भारत की। भारत को अविनाशी खण्ड कहा जाता है। यह भारत है बर्थ प्लेस पतित-पावन बाप का। यह बहुत ऊंच खण्ड है। यहाँ लक्ष्मी-नारायण की राजधानी होगी। यह तुम जानते हो कि बाप फिर से देवी-देवता धर्म की सैपलिंग लगा रहे हैं। जो इस धर्म के होंगे वही आकर वर्सा लेंगे। इसको सैपलिंग कहा जाता है। बाबा ने समझाया – देही-अभिमानी बनना है। बाबा हमको पढ़ा रहे हैं। हम इन कानों से सुनते हैं, पढ़ते हैं, पढ़ाते हैं। अच्छा!-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) चित्र को भूल विचित्र बन विचित्र बाप को याद करना है। देह सहित देह के सब धर्मों को बुद्धि से भूलना है, देही-अभिमानी हो रहने का अभ्यास करना है।

2) देवी-देवता धर्म का सैपलिंग लग रहा है, इसलिए पावन जरूर बनना है। दैवीगुण धारण करने हैं।

वरदान:- ज्ञान को रमणीकता से सिमरण कर आगे बढ़ने वाले सदा हर्षित, खुशनसीब भव
यह सिर्फ आत्मा, परमात्मा का सूखा ज्ञान नहीं है। बहुत रमणीक ज्ञान है, सिर्फ रोज़ अपना नया-नया टाइटिल याद रखो – मैं आत्मा तो हूँ लेकिन कौन सी आत्मा हूँ, कभी आर्टिस्ट की आत्मा हूँ, कभी बिजनेसमैन की आत्मा हूँ… ऐसे रमणीकता से आगे बढ़ते रहो। जैसे बाप भी रमणीक है देखो कभी धोबी बन जाता तो कभी विश्व का रचयिता, कभी ओबीडियन्ट सर्वेन्ट…तो जैसा बाप वैसे बच्चे….ऐसे ही इस रमणीक ज्ञान का सिमरण कर हर्षित रहो, तब कहेंगे खुशनसीब।
स्लोगन:- सच्चे सेवाधारी वह हैं जिनकी हर नस अर्थात् संकल्प में सेवा के उमंग-उत्साह का खून भरा हुआ है।

TODAY MURLI 16 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 16 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 15 August 2018 :- Click Here

16/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you will be able to imbibe knowledge when you become soul conscious. Only the children who become soul conscious will be able to remember the Father.
Question: Due to which one mistake have human beings said that souls are immune to the effect of actions?
Answer: Human beings have said that each soul is the Supreme Soul and this is why they have understood souls to be immune to the effect of action. However, only Shiv Baba is immune to the effect of action. He doesn’t experience happiness or sorrow, sweetness or bitterness. A soul says: Such-and-such a thing is sour. The Father says: I am not affected by anything. I am beyond the effect of these things. I am the Ocean of Knowledge and I speak that same knowledge to you.
Song: I have come having awakened my fortune. 

Om shanti. Who said this? The soul said this through these organs. The soul is an embodiment of peace. I, the soul, receive this body and that is when I become “talkie“. I perform many types of action through the body. First of all, you have to have this faith. In other spiritual gatherings, it is human beings who speak to human beings; it is bodily beings who speak there. They would say: Such-and-such a great soul is sitting there. Those things don’t exist here. You understand that you are souls and that those bodies are your organ s. Souls are listening to the Supreme Father, the Supreme Soul, and He only has the one name, Shiva. At this time, you children are sitting here listening to Him. Who is speaking to you? The unlimited Father. When you say, “The Supreme Father, the Supreme Soul”, your intellects’ yoga goes up above. Shiva means ‘point’. A soul is a point and God is also a point. However, He is called the Supreme Father, the Supreme Soul. He is the Father and souls are the children. You have to understand: “I, the soul, have become a child of the Father from beyond this body.” You children have to become soul conscious. At all other places, it is human beings who explain to human beings. At any place where they study the Gita, they remember the Gita and also say that God said this and that in the Gita. They believe that God spoke the Gita in a corporeal form. Some sit and relate the Vedas and scriptures. Human beings wrote the Vedas. Incorporeal God did not write the Vedas. Vyas was a human being. Vyas cannot be called the Supreme Soul. The Supreme Father, the Supreme Soul, is a point. Children are in corporeal forms; they have corporeal forms, whereas the Father is incorporeal. The Father says: I never have to become big or small. You become big or small. I am called the Supreme Father. Human beings are at first children and then, when they grow up, they become parents and then become children again. I am always the Father. I do not become a child. I only have the one name, Shiva. You receive 84 names because you take 84 births. I, the Supreme Father, am the form of a point. It is just that people on the path of devotion have made My form very large in order to worship Me. Sometimes they make a very big image of someone. They make a very big image of Buddha. There cannot be such a tall human being. They simply give regard in that way. They believe that he was very big. The Father is the Highest on High. The greatest of all is the Supreme Father, the Supreme Soul. The Father sits here and gives His own introduction. You call Me Shiva. It is explained to you children: You have to understand that you have come personally in front of incorporeal Shiv Baba. I am always called the Supreme Father, the Supreme Soul. I am the Seed of the human world tree. The Supreme Soul sits here and explains. The soul has the knowledge. It is sung: The Supreme Father, the Supreme Soul, God. He is the Ocean of Knowledge. He is speaking this knowledge to us. First of all, you have to become soul conscious. You mustn’t become body conscious. However, according to the drama, you had to become body conscious. The Father is now making you soul conscious. All of you are children. This one is also a child. Souls are receiving the inheritance from the Supreme Father, the Supreme Soul, the Grandfather. In worldly relationships, only sons receive an inheritance; daughters don’t receive it. The unlimited Father says: All of you are souls. Each one of you has a right. You used to belong to Me, the Supreme Father, the Supreme Soul, and you belong to Me now. You say: O God, the Father , O h Supreme Father, Supreme Soul! You sing His praise. Who sings it? Souls. These are the physical father s of bodies whereas this One is the Father of souls. The soul calls out: O Supreme Father, Supreme Soul! You have been remembering the imperishable Father because there is nothing but sorrow in the kingdom of Ravan. You began remembering when the kingdom of Ravan began. You only have to remember the Father because it is only from the Father that you receive the inheritance. Here, human beings remember many. Gurus make you forget remembrance of the One. If God is omnipresent, then whom should we call God or Father? The Father repeatedly says: Children, become soul conscious! While sitting and moving about, remember Me, your Father! Understand that you are following shrimat. I, the soul, am eating in remembrance of Baba. Your sins will be absolved by having remembrance. The destination is very high. Yoga is not like going to your aunty’s home! However, the Father’s name has been made to disappear. Shri Krishna is just a child. It was definitely the Father who gave you such a huge reward. The Father explains: Forget your body and all bodily religions. All of those names were given later on. Therefore, you should understand that you are studying this knowledge with the Supreme Father, the Supreme Soul. There isn’t any other school where they would understand that they are souls. You know that you are at first satopradhan and that you then go through the stages of sato, rajo and tamo. Alloy is mixed into souls. I never have alloy in Me. I am ever real gold. You souls have all become iron aged at this time. Mama would also say: I am telling you what I have heard from Shiv Baba. Shiv Baba Himself is the Ocean of Knowledge. These matters have to be understood very clearly. We truly now belong to Baba. He is teaching us. We are being liberated in life by studying with Baba. To be liberated in life means you have to enter a body, but also experience happiness. Everyone does receive liberation but everyone goes into liberation-in-life numberwise. All souls become liberated. He liberates you from sorrow for half the cycle. He says: I liberate you and make you liberated-in-life. Then, some take this many births and others take that many births. Everyone becomes liberated-in-life. There is only the One who is the Bestower of Salvation. All the founders of religions have now become tamopradhan while taking rebirth. I come and liberate everyone from this sorrow and this is why I am called the Liberator and the Bestower of Liberation and Liberation-in-Life. “Liberation” means to go to your home in the land of silence. The Father also comes here from the supreme abode which is also called the world beyond (Parlok). You remember both the land of nirvana and the land of heaven. Heaven and hell exist here. At this time, everyone understands that this is hell. They continue to receive so much sorrow. They have written very fearsome stories in the Garuda Purana (Hindu scripture) through which people would become afraid and thereby be saved from committing sin. This is why they sat and made up such stories. They begin to write such scriptures in the copper age. The Father says: I come and create the Brahmin religion through Brahma. They then become the sun and moon dynasties. In those two ages, no one comes to establish a religion. Then, one after another, they all continue to come down, numberwise, and know their own religion. This deity religion will disappear and they will then no longer be able to call themselves deities. How could impure ones be called Shri Shri or elevated? Only the Father makes you elevated. Deities are called elevated. There are many images of them, but people don’t understand when the deity religion existed or who established it. They have elongated the duration of the golden age. Baba now says: Children, consider yourselves to be souls. Remember the Father. The play is now coming to an end. Can’t you see that the gates to liberation and liberation-in-life are opening? The Bestower of Liberation and Liberation-in-Life is only the One. You can see that here (in the world) the title of World Mother is given to someone or other. In fact, it is this one who is Jagadamba, the World Mother. There isn’t a person who could be the World Father, Teacher and also the Jagadguru. Although people give themselves many names, they are not that. There is such a vast difference between Lakshmi and Narayan and those vicious ones who give themselves those titles. Human beings have become such buddhus(fools). They have forgotten the original eternal, deity religion and taken those titles for themselves. In fact, only the One has the highest-on-high status. There is only the one Bestower of Salvation. Even if you call Him Rama, He is the same incorporeal One. The Father says: The people of Bharat do not know their own religion, when it was established or who established it. Some remember a goddess, some would remember Krishna and others would remember their guru. They even put up a photograph of their guru. You have nothing to do with pictures. The One who doesn’t have an image (is without a form) is Vichitra (without an image). A soul is without an image. Just as the Father is without an image, in the same way, children are also without an image. It is souls that listen. Baba has taken this body on loan. He says: How could I give knowledge without the support of matter? How could I teach you Raja Yoga? Only the incorporeal One is called God. He has to come into the impure world. They show Krishna floating on a pipal leaf in the ocean. There isn’t anything like that. Krishna is the first prince of the world. There are no other religions there. That is the undivided kingdom and then there is duality. Then, many types of religion continue to be established. Therefore, you children have to understand that Baba enters this body and teaches us. Baba says: I am bodiless. I give you knowledge through this body. I am the Ocean of Knowledge. The Father sits here and explains all of these things. When you simply say “God” or “Supreme Soul”, you forget the relationship of the Father. You forget that God is the Father and that you receive the inheritance from Him. He is our Father, the Creator , and we are His creation; He has created us. Someone has to be the Creator. Baba has explained that men are limited Brahmas: they create children. First, a female is adopted. Then children are createdwith her. Baba says: I also create with this one. A female is definitely needed. You say to Baba: You are the Mother and Father. Therefore, He adopts you children through this one. This one becomes the mother and He adopts you through him. So you are called the mouth-born creation of Brahma. You belong to the Father through this one. These are very wonderful things. They are not mentioned in the scriptures. I am called knowledge-full, Janijananhar. People think that God knows what is inside everyone and that He is a t hought reader. How could He become the thought reader of so many people? The Father says: I am the Seed of the human world tree. I am the Living Being, the Truth. Souls too are living. Bodies are false; they repeatedly continue to change. Souls do not die. You souls imbibe this knowledge. The Father explains: I am the Supreme Father, the Supreme Soul, immune to the effect of action. That is, I am not at all affected by happiness or sorrow, or by bitter or sweet things. I am free from any effect of those. I am the Ocean of Knowledge. People then say that souls are immune to the effect of action because souls and the Supreme Soul are one and the same. One person said something and everyone began to follow him. The Father says: I am immune to the effect of action. I don’t find anything sour or salty. This one’s soul says such-and-such a thing is sour. I have the knowledge of the whole world which I then teach souls. Each one of you has to understand: I, the soul, am listening to the Supreme Father, the Supreme Soul. Here, these are truly the versions of God. You should have the faith: God, the Creator, is One. First and foremost is Bharat. Bharat is called the imperishable land. This Bharat is the birthplace of the Purifier Father. This is a very elevated land. There is to be the kingdom of Lakshmi and Narayan here. You know that the Father is once again planting the sapling of the deity religion. Those who belong to this religion will come and claim their inheritance. This is called the sapling. Baba has explained: You have to become soul conscious. Baba is teaching us. We are listening through these ears. We are studying and teaching. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Forget the image, become one without an image and remember the Father who is without an image. Remove your body and all bodily religions from your intellect. Practise remaining soul conscious.
  2. The sapling of the deity religion is being planted. Therefore, you definitely have to become pure. You have to imbibe divine virtues.
Blessing: May you always be cheerful and have the fortune of happiness and move forward by churning knowledge in an entertaining way.
This is not just dry knowledge of the soul and the Supreme Soul; this is very entertaining knowledge. Every day, simply remember your new titles. I am a soul, but what type of soul? Sometimes, I am an artist’s soul, sometimes a businessman’s soul. Continue to move forward in an entertaining way in this way. Just as the Father is entertaining: He sometimes becomes the Laundryman, sometimes the World Creator, sometimes the ObedientServant; as is the Father so are the children. Churn this entertaining knowledge in this way and remain cheerful and you will be said to have the fortune of happiness.
Slogan: A true server is one whose every vein, that is, whose every thought is filled with the blood of zeal and enthusiasm for service.

*** Om Shanti ***

Font Resize