15 october ki murli

TODAY MURLI 15 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

15/10/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, to be delicate is body consciousness. You children should not have any devilish sanskar of sulking or crying. You have to tolerate happiness and sorrow, respect and disrespect.
Question: What is the main reason for service becoming slack?
Answer: Service becomes slack when, out of body consciousness, you begin to look at the weaknesses of one another. Not to get on with someone is also body consciousness. It is being delicate to say: I can’t live with so-and-so; I can’t stay here. To say these words means to become a thorn and be disobedient. Baba says: Children, you are the spiritual military and you should therefore be present as soon as you receive an order. Don’t make excuses about anything.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to the spiritual children. The first teaching that you children receive is to consider yourselves to be souls. Let go of body consciousness and become soul conscious. I am a soul. Only when I become soul conscious can I remember the Father. That is the path of ignorance and this is the path of knowledge. Only the one Father who grants salvation to everyone gives knowledge. He is incorporeal, that is, He doesn’t have a human form. No one with a human form can be God. All souls are incorporeal but, because of becoming body conscious, they have forgotten that they are souls. The Father says: You now have to return home. Consider yourselves to be souls. Only when you consider yourselves to be souls and you remember the Father can your sins of many births be burnt away. There is no other way to do this. It is souls that become impure and souls that become pure. The Father has explained that pure souls exist in the golden and silver ages. Souls then become impure in the kingdom of Ravan. It is also explained in the picture of the ladder how those who were pure became impure. Five thousand years ago, when you souls were in the abode of peace, you were pure. That is also called the land of Nirvana. Later, in the iron age, when you became impure, you cried out: O Purifier come! The Father explains: Children, only I can give you the knowledge of changing from impure to pure. This knowledge then disappears. The Father Himself has to come and give us this knowledge. Here, human beings have created many scriptures. In the golden age there are no scriptures. There is not a trace of the path of devotion there. The Father says: Only through Me can you become pure from impure. The pure world definitely has to be created. I come and teach you children Raj Yoga. You also have to imbibe divine virtues. To sulk or cry is to have a devilish nature. The Father says: You children have to tolerate happiness and sorrow, respect and disrespect. You mustn’t become delicate. To say “I cannot stay in this place” is also being delicate. You shouldn’t have any thoughts such as, “This one’s nature is like this. This one is like that.” Only flowers should constantly emerge from your lips. Don’t allow thorns to emerge from your lips. So many children still allow thorns to emerge from their lips. To become angry with someone is also being a thorn. Many children are unable to get on with one another. Because of being body conscious, they continue to look at the weaknesses of others, and this is why their own weaknesses are left in them. This is how service becomes slack. Baba understands that this too happens according to the drama. Each one has to be reformed. When the military go to war, their duty is to fight the enemy. The military are also called in when there are floods or some upheaval. Then, the military start doing the work of labourers. The Government orders the military to carry mud etc. If someone doesn’t go, he would be shot. The Government’s orders have to be obeyed. The Father says: You are also bound to do service. You should immediately be ready to do service wherever the Father asks you to go and do it. If you don’t accept this, you are not counted as part of this military. Such ones are unable to sit in the Father’s heart. You are the Father’s helpers in giving everyone the message. For instance, when a big museum is opened somewhere 10 miles away you still have to go and do service there. You mustn’t think about the cost. You are receiving the orders of the highest-on-high Government, the unlimited Father, whose right hand is Dharamraj. If you don’t follow His shrimat, you fall. Shrimat says: Make your eyes civil. Have the courage to conquer lust. These are Baba’s orders. If you don’t follow them, you become totally crushed. You will then lose out on claiming the kingdom for 21 births. The Father says: No one except you children can know Me. Those who came in the previous cycle will gradually continue to emerge again. These are absolutely new things. This is the age of the Gita. However, there is no mention of the confluence age in the scriptures. They have shown the Gita in the copper age, but it must surely have been at the confluence age when Raj Yoga was taught. These things are not in anyone’s intellect. You now have the intoxication of knowledge, whereas those people have the intoxication of the path of devotion. They say: Even if God were to come, we would not stop doing devotion. This picture of the ladder showing the rise and fall is very good. In spite of that, people’s eyes don’t open. They are totally engrossed in the intoxication of Maya. It takes a long time before the intoxication of knowledge rises. First of all, divine virtues are needed. Whatever orders the Father gives you, you mustn’t make any excuse. To say “I can’t do that” is to be disobedient. When you receive shrimat to do something, you should understand that that is Shiv Baba’s elevated direction. Shiv Baba is the Bestower of Salvation. The Bestower can never give wrong directions. The Father says: I enter this one at the end of his many births. Look how Lakshmi goes ahead of him. It is remembered that the females are always placed at the front. First is Lakshmi, then Narayan. As are the king and queen, so the subjects. You have to become just as elevated. It is now Ravan’s kingdom over the whole world. Everyone says that they want the kingdom of God (Rama). It is now the confluence age. The kingdom of Ravan didn’t exist when it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. No one knows how the change took place. Everyone is in total darkness. They think that the iron age is still in its infancy and at the crawling stage. Therefore, people are sleeping even more deeply. Only the spiritual Father gives you spirits spiritual knowledge. He teaches you Raj Yoga. Krishna cannot be called the spiritual Father. He would never say: O spiritual children! You should also write: The spiritual, knowledge-full Father is giving you spiritual children spiritual knowledge. The Father explains: All the human beings of the world are body conscious; none of them knows that they are souls. The Father says: No soul can ever become merged. It has been explained to you children what Dashera and Deepawali are. All the worshipping etc. that people do is blind faith. It is called playing with dolls. It is also called worshipping stone. You are now becoming those with divine intellects. Therefore, you no longer worship stone. People go and bow their heads in front of the idols but they don’t understand anything. It is said: Knowledge, worship and disinterest. Knowledge lasts for half a cycle and then worshipping begins. You are now receiving knowledge. Therefore, there is disinterest in devotion. This world is changing. There is devotion in the iron age. There is no devotion in the golden age. There, everyone is worthy of worship. The Father asks: Children, why do you bow your heads? For half the cycle, you rubbed your heads on the floor and used up all your money and achieved nothing. Maya has completely scalped you and has made you poverty-stricken. The Father has now come to put everyone’s head right. Some Europeans have now also gradually begun to understand. Baba has explained that the people of Bharat have become completely tamoguni. Those of other religions come later. Therefore, they experience less happiness and less sorrow. The people of Bharat experience a great deal of happiness and a great deal of sorrow. At the beginning, they are so wealthy; they are the masters of the world. Those of other religions are not wealthy at first. They become wealthy gradually after their religion has expanded. Bharat has now become the poorest of all. It is in Bharat that there are those with blind faith. This too is predestined in the drama. The Father says: That which I made into heaven has now become hell. The people here have become those with monkey intellects. I come to make them worthy of sitting in a temple. The vices are so strong. There is so much anger. You should have no anger in you. Become completely sweet and peaceful; extremely sweet. You also know that only a handful out of multimillions emerge to claim a royal status. The Father says: I have come to change you from ordinary humans into Narayan. In that, it is eight main jewels who are remembered. There are eight jewels with the Father in the middle of them. Eight pass with honours and that too is numberwise according to the efforts they make. It takes a great deal of effort to break body consciousness. The consciousness of your body must be completely removed. Some of those who strongly believe in the knowledge of the brahm element are also like that. They renounce their bodies just while sitting somewhere. Just while sitting somewhere, they leave their bodies, and the atmosphere becomes completely quiet. Mostly, they leave their bodies in the pure, early hours of the morning. At night, human beings perform dirty acts and, in the morning, after bathing etc., they begin to remember God and worship Him. The Father continues to explain everything. At the exhibitions etc., first of all give Alpha’s introduction. First Alpha, and then beta, the kingdom. The Father is only One. He is the incorporeal One. The Father, the Creator, sits here and tells you the knowledge of the beginning the middle and the end of creation. The same Father says: Constantly remember Me alone. Renounce all bodily relations. Consider yourselves to be souls and constantly remember Me alone. When you give them the Father’s introduction, no one will have the courage to question it. Once they have faith in the Father, tell them how we take 84 births. Once they have understood the cycle and the Father, they won’t have any questions. When you rattle on, giving them knowledge without first giving the Father’s introduction, you waste a lot of time and your throat chokes. First of all, take up the aspect of Alpha. They won’t be able to understand anything as long as you rattle on. Sit with them and explain very slowly in a simple manner. Those who are soul conscious will be able to understand well. Those who explain well should give their help at the big museums. Leave your centre for a few days and go to help them. Appoint someone to look after your centre while you are away. If you haven’t made anyone become like yourself and worthy of looking after your centre, the Father would think that you are of no use and haven’t done service. Some children write to Baba and say: How can I leave this service and go there? Baba is ordering you to go and do service at a particular place where there is an exhibition. If you haven’t made anyone worthy enough to look after your centre, then of what use are you? Baba has ordered you. Therefore, you must run there quickly. Such teachers are called maharathis. All the rest are either the cavalry or the infantry. Everyone has to help in service. If you haven’t made someone become like yourself during so many years, what have you been doing? After so much time, you still haven’t made someone into a messenger who can look after the centre? So many different types of people come here. Therefore, you need wisdom in knowing how to talk to them. You must definitely listen to the murli every day. If you don’t listen to the murli, you receive an absent mark. You children have to lay siege to (surround) the whole world. You children are serving the whole world, are you not? To make the impure world pure is to lay siege to it, is it not? Show everyone the path to the lands of liberation and liberation-in-life and liberate them from sorrow. Achcha.

To the sweetest beloved, long-lost and now-found children, love remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become those with peaceful and extremely sweet natures. Never become angry. Make your eyes very, very civil.
  2. Obey the Father’s orders instantly. Do the service of making the whole world pure from impure, that is, lay siege to it (surround it).
Blessing: May you be a constantly ignited light and know your own importance and your task.
You children are lights for the world and so world transformation will therefore take place through your transformation. So, let the past be the past, know your own importance, know your task and be constantly ignited lights. You can bring about world transformation through your self-transformation in a second. Simply practise being karma yogis one moment and being in your karmateet stage the next moment. Just as your creation, a tortoise, withdraws all its organs in a second, in the same way, you master creators, on the basis of the power to merge, have to merge all your thoughts and stabilize in one thought.
Slogan: In order to experience the stage of being absorbed in love, finish the battling between remembrance and forgetfulness.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 15 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

15-10-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
मीठे बच्चे – “नाज़ुकपना भी देह-अभिमान है, रूसना, रोना यह सब आसुरी संस्कार तुम बच्चों में नहीं होने चाहिए, दु:ख-सुख, मान-अपमान सब सहन करना है”
प्रश्नः- सर्विस में ढीलापन आने का मुख्य कारण क्या है?
उत्तर:- जब देह-अभिमान के कारण एक दो की खामियां देखने लगते हैं तब सर्विस में ढीलापन आता है। आपस में अनबनी होना भी देह-अभिमान है। मैं फलाने के साथ नहीं चल सकता, मैं यहाँ नहीं रह सकता…… यह सब नाज़ुकपना है। यह बोल मुख से निकालना माना कांटे बनना, नाफरमानबरदार बनना। बाबा कहते बच्चे, तुम रूहानी मिलेट्री हो इसलिए ऑर्डर हुआ तो फौरन हाज़िर होना चाहिए। कोई भी बात में आनाकानी मत करो।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं। बच्चों को पहले-पहले यह शिक्षा मिलती है कि अपने को आत्मा निश्चय करो। देह-अभिमान छोड़ देही-अभिमानी बनना है। हम आत्मा हैं, देही-अभिमानी बनें तब ही बाप को याद कर सकें। वह है अज्ञानकाल। यह है ज्ञान काल। ज्ञान तो एक ही बाप देते हैं जो सर्व की सद्गति करते हैं। और वह है निराकार अर्थात् उनका कोई मनुष्य आकार नहीं है। जिसको मनुष्य का आकार है उनको भगवान नहीं कह सकते। अब आत्मायें तो सब निराकारी ही हैं। परन्तु देह-अभिमान में आने से अपने को आत्मा भूल गये हैं। अब बाप कहते हैं तुमको वापिस जाना है। अपने को आत्मा समझो, आत्मा समझ बाप को याद करो तब जन्म-जन्मान्तर के पाप भस्म हों, और कोई उपाय नहीं। आत्मा ही पतित, आत्मा ही पावन बनती है। बाप ने समझाया है पावन आत्मायें हैं सतयुग-त्रेता में। पतित आत्मा फिर रावण राज्य में बनती हैं। सीढ़ी में भी समझाया है जो पावन थे वह पतित बने हैं। 5 हज़ार वर्ष पहले तुम सब आत्मायें शान्तिधाम में पावन थी। उसको कहा ही जाता है निर्वाणधाम। फिर कलियुग में पतित बनते हैं तब चिल्लाते हैं – हे पतित-पावन आओ। बाबा समझाते हैं – बच्चे, मैं जो तुमको ज्ञान दे रहा हूँ पतित से पावन होने का, वह सिर्फ मैं ही देता हूँ जो फिर प्राय: लोप हो जाता है। बाप को ही आकर सुनाना पड़ता है। यहाँ मनुष्यों ने अथाह शास्त्र बनाये हैं। सतयुग में कोई शास्त्र होता ही नहीं। वहाँ भक्ति मार्ग रिंचक भी नहीं।

अभी बाप कहते हैं तुम मेरे द्वारा ही पतित से पावन बन सकते हो। पावन दुनिया जरूर बननी ही है। मैं तो बच्चों को ही आकर राजयोग सिखाता हूँ। दैवीगुण भी धारण करने हैं। रूसना, रोना यह सब आसुरी स्वभाव है। बाप कहते हैं दु:ख-सुख, मान-अपमान सब बच्चों को सहन करना है। नाज़ुकपना नहीं। मैं फलाने स्थान पर नहीं रह सकती हूँ, यह भी नाज़ुकपना है। इनका स्वभाव ऐसा है, यह ऐसा है, वैसा है, यह कुछ भी रहना नहीं चाहिए। मुख से सदैव फूल ही निकलें। कांटा नहीं निकलना चाहिए। कितने बच्चों के मुख से कांटे बहुत निकलते हैं। किसको गुस्सा करना भी कांटा है। एक-दो में बच्चों की अनबनी बहुत होती है। देह-अभिमान होने कारण एक दो की खामियां देखते खुद में अनेक प्रकार की खामियां रह जाती हैं, इसलिए फिर सर्विस ढीली पड़ जाती है। बाबा समझते हैं – यह भी ड्रामा अनुसार होता है। सुधरना भी तो है। मिलेट्री के लोग जब लड़ाई में जाते हैं तो उन्हों का काम ही है दुश्मन से लड़ना। फ्लड्स होती हैं वा कुछ हंगामा हुआ तो भी बहुत मिलेट्री को बुलाते हैं। फिर मिलेट्री के लोग मज़दूरों आदि का काम भी करने लग पड़ते हैं। गवर्मेंन्ट मिलेट्री को ऑर्डर करती है – यह मिट्टी सारी भरो। अगर कोई न आया तो गोली के मुँह में। गवर्मेन्ट का ऑर्डर मानना ही पड़े। बाप कहते हैं तुम भी सर्विस के लिए बांधे हुए हो। बाप जहाँ भी सर्विस पर जाने के लिए बोले, झट हाज़िर होना चाहिए। नहीं माना तो मिलेट्री नहीं कहेंगे। वह फिर दिल पर नहीं चढ़ते। तुम बाप के मददगार हो सबको पैगाम देने में। अब समझो कहाँ बड़ा म्युजियम खोलते हैं, कहते हैं 10 माइल दूर है, सर्विस पर तो जाना पड़े ना। खर्चे का ख्याल थोड़ेही करना है। बड़े से बड़ी गवर्मेन्ट बेहद के बाप का ऑर्डर मिलता है, जिसका राइट हैण्ड फिर धर्मराज है। उनकी श्रीमत पर न चलने से फिर गिर पड़ते हैं। श्रीमत कहती है अपनी आंखों को सिविल बनाओ। काम पर जीत पाने की हिम्मत रखनी चाहिए। बाबा का हुक्म है, अगर हम नहीं मानेंगे तो एकदम चकनाचूर हो जायेंगे। 21 जन्मों की राजाई में रोला पड़ जायेगा। बाप कहते हैं मुझे बच्चों के बिगर तो कभी कोई जान न सके। कल्प पहले वाले ही आहिस्ते-आहिस्ते निकलते रहेंगे। यह हैं बिल्कुल नई-नई बातें। यह है गीता का युग। परन्तु शास्त्रों में इस संगमयुग का वर्णन नहीं है। गीता को ही द्वापर में ले गये हैं। लेकिन जब राजयोग सिखाया तो जरूर संगम होगा ना। परन्तु किसकी भी बुद्धि में यह बातें नहीं हैं। अभी तुम्हें ज्ञान का नशा चढ़ा हुआ है। मनुष्यों को है भक्ति मार्ग का नशा। कहते हैं भगवान भी आ जाए तो भी हम भक्ति नहीं छोड़ेंगे। यह उत्थान और पतन की सीढ़ी बहुत अच्छी है, तो भी मनुष्यों की आंखें नहीं खुलती हैं। माया के नशे में एकदम चकनाचूर हैं। ज्ञान का नशा बहुत देरी से चढ़ता है। पहले तो दैवीगुण भी चाहिए। बाप का कोई भी ऑर्डर हुआ तो उसमें आनाकानी नहीं करनी है। यह मैं नहीं कर सकता हूँ, इसको कहा जाता है नाफरमानबरदार। श्रीमत मिलती है ऐसा-ऐसा करना है तो समझना चाहिए कि शिवबाबा की श्रेष्ठ मत है। वह है ही सद्गति दाता। दाता कभी उल्टी मत नहीं देंगे। बाप कहते हैं मैं इनके बहुत जन्मों के अन्त में प्रवेश करता हूँ। इनसे भी देखो लक्ष्मी ऊंच चली जाती है। गायन भी है – फीमेल को आगे रखा जाता है। पहले लक्ष्मी फिर नारायण, यथा राजा रानी तथा प्रजा हो जाती है। तुमको भी ऐसा श्रेष्ठ बनना है। इस समय तो सारी दुनिया में रावण राज्य है। सभी कहते हैं रामराज्य चाहिए। अब है संगम। जब इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था तो रावण राज्य नहीं था, फिर चेन्ज कैसे होती है, यह कोई नहीं जानते। सभी घोर अन्धियारे में हैं। समझते हैं – कलियुग तो अभी छोटा बच्चा, रेगड़ी पहन रहा है। तो मनुष्य और ही नींद में सोये हुए हैं। यह रूहानी नॉलेज, रूहानी बाप ही रूहों को देते हैं, राजयोग भी सिखलाते हैं। कृष्ण को रूहानी बाप नहीं कहेंगे। वह ऐसे नहीं कहेंगे कि हे रूहानी बच्चों। यह भी लिखना चाहिए – रूहानी नॉलेजफुल बाप स्प्रीचुअल नॉलेज रूहानी बच्चों को देते हैं।

बाप समझाते हैं दुनिया में सभी मनुष्य हैं देह-अभिमानी। मैं आत्मा हूँ, यह कोई नहीं जानते हैं। बाप कहते हैं किसकी भी आत्मा लीन नहीं होती है। अभी तुम बच्चों को समझाया जाता है, दशहरा, दीपावली क्या है। मनुष्य तो जो भी पूजा आदि करते हैं, सब ब्लाइन्डफेथ की, जिसको गुड्डी पूजा कहा जाता है, पत्थर पूजा कहा जाता है। अभी तुम पारसबुद्धि बनते हो तो पत्थर की पूजा नहीं कर सकते हो। चित्रों के आगे जाकर माथा टेकते हैं। कुछ भी समझते नहीं। कहते भी हैं ज्ञान, भक्ति और वैराग्य। ज्ञान आधाकल्प चला फिर भक्ति शुरू हुई। अब तुमको ज्ञान मिलता है तो भक्ति से वैराग्य आ जाता है। यह दुनिया ही बदलती है। कलियुग में भक्ति है। सतयुग में भक्ति होती नहीं। वहाँ है ही पूज्य। बाप कहते हैं – बच्चे, तुम माथा क्यों टेकते हो। आधाकल्प तुमने माथा भी घिसाया, पैसे भी गँवाये, मिला कुछ नहीं। माया ने एकदम माथा मूड लिया है। कंगाल बना दिया है। फिर बाप आकर सबका माथा ठीक कर देते हैं। अभी आहिस्ते-आहिस्ते कुछ यूरोपियन लोग भी समझते हैं। बाबा ने समझाया है – यह भारतवासी तो बिल्कुल तमोगुणी बन गये हैं। वह और धर्म वाले फिर भी पीछे आते हैं तो सुख भी थोड़ा, दु:ख भी थोड़ा मिलता है। भारतवासियों को सुख बहुत तो दु:ख भी बहुत है। शुरू में ही कितने धनवान एकदम विश्व के मालिक होते हैं। और धर्म वाले कोई पहले थोड़ेही धनवान होते हैं। पीछे वृद्धि को पाते-पाते अभी आकर धनवान हुए हैं। अब फिर सबसे भिखारी भी भारत बना है। अन्धश्रद्वालू भी भारत है। यह भी ड्रामा बना हुआ है। बाप कहते हैं मैंने जिसको हेविन बनाया, वह हेल बन गया है। मनुष्य बन्दरबुद्धि बन गये हैं, उनको मैं आकर मन्दिर लायक बनाता हूँ। विकार बड़े कड़े होते हैं। क्रोध कितना है। तुम्हारे में कोई क्रोध नहीं होना चाहिए। बिल्कुल मीठे, शान्त, अति मीठे बनो। यह भी जानते हो कोटो में कोई ही निकलते हैं – राजाई पद पाने वाले। बाप कहते हैं मैं आया हूँ तुमको नर से नारायण बनाने। उसमें भी 8 रत्न मुख्य गाये जाते हैं। 8 रत्न और बीच में है बाप। 8 हैं पास विद् ऑनर्स, सो भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। देह-अभिमान को तोड़ने में बड़ी मेहनत लगती है। देह का भान बिल्कुल निकल जाए। कोई-कोई पक्के ब्रह्म ज्ञानी जो होते हैं, उन्हों का भी ऐसे होता है। बैठे-बैठे देह का त्याग कर देते हैं। बैठे-बैठे ऐसे शरीर छोड़ते हैं, वायुमण्डल एकदम शान्त हो जाता है और अक्सर करके प्रभात के शुद्ध समय पर शरीर छोड़ते हैं। रात को मनुष्य बहुत गंद करते हैं, सुबह को स्नान आदि करके भगवान-भगवान कहने लगते हैं। पूजा करते हैं। बाप सब बातें समझाते रहते हैं। प्रदर्शनी आदि में भी पहले-पहले तुम अल्फ का परिचय दो। पहले अल्फ और बे। बाप तो एक ही निराकार है। बाप रचयिता ही बैठ रचना के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान समझाते हैं। वही बाप कहते हैं मामेकम् याद करो। देह के सम्बन्ध छोड़ अपने को आत्मा समझ मामेकम् याद करो। बाप का परिचय तुम देंगे फिर किसको हिम्मत नहीं रहेगी प्रश्न-उत्तर करने की। पहले बाप का निश्चय पक्का हो जाए तब बोलो 84 जन्म ऐसे लिये जाते हैं। चक्र को समझ लिया, बाप को समझ लिया फिर कोई प्रश्न उठेगा नहीं। बाप का परिचय देने बिगर बाकी तुम तिक-तिक करते हो तो उसमें तुम्हारा टाइम बहुत वेस्ट हो जाता है। गले ही घुट जाते हैं। पहली-पहली बात अल्फ की उठाओ। तिक-तिक करने से समझ थोड़ेही सकते हैं। बिल्कुल सिम्पुल रीति और धीरे से बैठ समझाना चाहिए, जो देही-अभिमानी होंगे वही अच्छा समझा सकेंगे। बड़े-बड़े म्युज़ियम में अच्छे-अच्छे समझाने वालों को मदद देनी पड़े। थोड़े रोज़ अपना सेन्टर छोड़ मदद देने आ जाना है। पिछाड़ी में सेन्टर सम्भालने कोई को बिठा दो। अगर गद्दी सम्भालने लायक कोई को आपसमान नहीं बनाया है, तो बाप समझेंगे कोई काम के नहीं, सर्विस नहीं की। बाबा को लिखते हैं सर्विस छोड़ कैसे जायें! अरे बाबा हुक्म करते हैं फलानी जगह प्रदर्शनी है सर्विस पर जाओ। अगर गद्दी लायक किसको नहीं बनाया है तो तुम किस काम के। बाबा ने हुक्म किया – झट भागना चाहिए। महारथी ब्राह्मणी उनको कहा जाता है। बाकी तो सब हैं घोड़ेसवार, प्यादे। सबको सर्विस में मदद देनी है। इतने वर्ष में तुमने किसको आपसमान नहीं बनाया है तो क्या करते थे। इतने समय में मैसेन्जर नहीं बनाया है, जो सेन्टर सम्भालें। कैसे-कैसे मनुष्य आते हैं – जिनसे बात करने का भी अक्ल चाहिए। मुरली भी जरूर रोज़ पढ़नी है अथवा सुननी है। मुरली नहीं पढ़ी गोया अबसेन्ट पड़ गई। तुम बच्चों को सारे विश्व पर घेराव डालना है। तुम सारे विश्व की सेवा करते हो ना। पतित दुनिया को पावन बनाना यह घेराव डालना है ना। सभी को मुक्ति-जीवनमुक्ति धाम का रास्ता बताना है, दु:ख से छुड़ाना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बहुत मीठे, शान्त, अति मीठे स्वभाव का बनना है। कभी भी क्रोध नहीं करना है। अपनी आंखों को बहुत-बहुत सिविल बनाना है।

2) बाबा जो हुक्म करे, उसे फौरन मानना है। सारे विश्व को पतित से पावन बनाने की सेवा करनी है अर्थात् घेराव डालना है।

वरदान:- अपने महत्व व कर्तव्य को जानने वाले सदा जागती ज्योत भव
आप बच्चे जग की ज्योति हो, आपके परिवर्तन से विश्व का परिवर्तन होना है इसलिए बीती सो बीती कर अपने महत्व वा कर्तव्य को जानकर सदा जागती-ज्योत बनो। आप सेकण्ड में स्व परिवर्तन से विश्व परिवर्तन कर सकते हो। सिर्फ प्रैक्टिस करो अभी-अभी कर्मयोगी, अभी-अभी कर्मातीत स्टेज। जैसे आपकी रचना कछुआ सेकण्ड में सब अंग समेट लेता है। ऐसे आप मास्टर रचता समेटने की शक्ति के आधार से सेकण्ड में सर्व संकल्पों को समाकर एक संकल्प में स्थित हो जाओ।
स्लोगन:- लवलीन स्थिति का अनुभव करने के लिए स्मृति-विस्मृति की युद्ध समाप्त करो।

TODAY MURLI 15 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 15 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 14 October 2019:- Click Here

15/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the first shrimat of the Satguru is for you to renounce body consciousness and become soul conscious.
Question: Why can you children not have any desires at this time?
Answer: Because all of you are in the stage of retirement. You know that whatever you see with your physical eyes at this time is to be destroyed. You don’t want anything now; you have to become complete beggars. If you wear anything expensive, it will pull your intellect and you will then continue to be trapped in body consciousness. It is this that requires effort. When you make effort and become completely soul conscious, you will receive the sovereignty of the world.

Om shanti. You children sit here for 15 minutes or half an hour and Baba also makes you children sit here for 15 minutes so that you consider yourselves to be souls and you remember the Father. You receive these teachings only once and you then do not receive them ever again. In the golden age, you will not be told to sit in soul consciousness. Only the one Satguru says this and it is said of Him: The one Satguru takes you across and everyone else drowns you. The Father is making you soul conscious here. He Himself is soul conscious. In order to explain to you, He says: I am the Father of all of you souls. He doesn’t need to become bodiless and remember the Father. Only those who belong to the original eternal deity religion will remember Him. There are many who belong, numberwise, according to their efforts. This is something to be understood very well and explained. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the Father of all of you and then He is also knowledge-full. The knowledge remains in the soul. You souls carry the sanskars. The Father already has those sanskars. You all believe that He is the Father. The other speciality He has is that He has that original knowledge. He is the Seed. Just as the Father sits here and explains to you, so you then have to sit and explain to others. The Father is the Seed of the human world and He is also the Truth, the Living Being and knowledge-full. He has the knowledge of the whole tree. No one else has the knowledge of this tree. Its Seed is the Father who is called the Supreme Father, the Supreme Soul. It is the same as with a mango tree, its seed would be called its creator. It is as though the seed is the father, but that is non-living. If it were living, it would know how the whole tree emerges from it but it is non-living. Its seed is planted underground. That One is the Living Seed; He resides up above. You become master seeds. You receive knowledge from the Father. He is the Highest on High. You too claim a high status. You need a high status in heaven. People do not understand that there is the kingdom of deities in heaven. How would the king, the queen, all the poor, the wealthy, the subjects etc. have been created in the kingdom? You now know how the original eternal deity religion is being established and who is establishing it. God is establishing it. The Father says: Children, whatever happens, it happens according to the dramaplan. All are bound by the drama. The Father also says: I am bound by the drama. I too have received a part and I play that part. He is the Supreme Soul. He is called the Supreme Father. All others are called brothers. No one else can be called the FatherTeacher and Guru. He is the Supreme Father of all, the Teacher and also the Satguru. These things must not be forgotten. However, some children forget because a kingdom is being established, numberwise, according to your efforts. It soon becomes apparent how each of you makes effort and whether you remember the Father or not, whether you have become soul conscious or not. It can be understood from someone’s activity whether he is clever in knowledge. The Father doesn’t say anything to anyone directly in case he becomes unconscious and upset about what Baba said and what others will say. The Father can tell how so-and-so does service. Everything depends on service. The Father also comes and does service. It is the children who have to remember the Father. The subject of remembrance is difficult. The Father teaches you yoga and knowledgeKnowledge is very easy; it is in remembrance that children fail; they become body conscious. Then, they have thoughts such as: I want this. I want this very good thing. The Father says: Here, you are in a state of exile. You now have to go into the stage of retirement. So you cannot wear anything like that (expensive). You are now in exile. If you have any such worldly things, these will pull you. Even your bodies will pull you and repeatedly bring you into body consciousness. This requires effort. You cannot receive the sovereignty of the world without making effort. You have been making effort and will continue to make effort, numberwise, for cycle after cycle. The result will continue to be revealed. At school too, students are transferred numberwise. A teacher would understand: So-and-so has made good effort. He is interested in teaching others; he has that feeling. There, they are transferred from one class to the next, then go to the second and then the third. Here, you only have to study once. As you make further progress, the closer you come, the more everything will be revealed. You have to make a lot of effort. You will then definitely claim a high status. You know that some become kings and queens and others become something else. Many subjects are also created. Everything can be known from their activity: How body conscious does this one remain? How much love does this one have for the Father? You have to love the Father alone, not brothers. You don’t receive anything from having love for brothers. You are all to receive your inheritance from the one Father. The Father says: Children, consider yourselves to be souls and remember Me and your sins will be cut away. This is the main thing. You will receive strength by having remembrance. Day by day, your battery will continue to be charged because you continue to imbibe knowledge; the arrow continues to be shot. Day by day, you continue to make progress, numberwise, according to the efforts you make. That One is the only Father, Teacher and Satguru who gives you the teachings to become soul conscious. No one else can give these teachings; they are all body conscious. No one receives the knowledge of how to become soul conscious. No human being can be the Father, Teacher or Guru. Each one is playing his own part. You continue to observe this as detached observers. You have to see the whole play as detached observers. You also have to act. The Father is the Creator, Director and Actor. Shiv Baba comes and acts. He is the Father of all. He comes and gives the inheritance to all sons and daughters. He alone is the Father and all the rest of the souls are brothers. This inheritance is only received from the one Father. You don’t keep anything of this world in your intellect. The Father says: Whatever you can see, it is all perishable. You now have to return home. Those people remember the brahm element, that is, they remember the home. They believe that they will merge into the brahm element. That is called ignorance. Whatever people say about liberation and liberation-in-life, it is wrong. Whatever methods they create, they are all wrong. Only the one Father shows you the right path. The Father says: I make you into kings of kings according to the drama plan. Some say: This doesn’t sit in our intellects. Baba, enable us to open our mouths! Have this mercy! The Father says: There is no question of Baba doing anything in this. The main thing is that you have to follow directions. Only from the Father do you receive right directions. All the directions of human beings are wrong because all have the five vices in them. As you continue to come down, you continue to become wrong. Just see how much occult power people continue to use. There is no happiness in that. You know that all of that is temporary happiness. That is called happiness like the droppings of a crow. You have to explain the pictures of the ladder and the tree very well. You can explain to anyone of any religion: The founder of your religion comes at such-and-such a time. Christ will come at such-and-such time. Those who have been converted to other religions will like this religion and will instantly come here. The rest will not like this. So, how could they make effort? Human beings put human beings on the gallows, but you have to stay in remembrance of the one Father. These are very sweet gallows. The intellect of the soul is connected in yoga to the Father. The soul is told to remember the Father. These are the gallows of remembrance. The Father resides up above. You know that we are souls and that we have to remember the Father alone. These bodies have to be renounced here. You have all of this knowledge. What are you doing sitting here? You are making effort to go beyond sound. The Father says: Everyone has to come to Me. So, He is the Death of all Deaths. That death only takes one, and that death is not in fact a person who comes and takes anyone. All of that is fixed in the drama. A soul departs by himself at his time. This Father takes all souls back with Him. So, the intellects’ yoga of all of you is to return home. To shed your body is called dying. When the body dies, the soul departs. This is why you call out to the Father: Baba, come and take us away from this world. We don’t want to live here any more. Now, according to the drama plan, we have to go back. People say: Baba, there is limitless sorrow here. We don’t want to live here any more. This is a very dirty world. Everyone definitely has to die. It is everyone’s stage of retirement. You now have to go beyond sound. Death will not come to you. You go in happiness. All the scriptures etc. belong to the path of devotion and they will exist again. These are very wonderful matters in the drama. Whatever you see at this time – this tape, clock etc. – will all exist again. There is no need to be confused about this. Repetition of the world history and geography means that it repeats identically. You know that you are once again becoming deities and that you will become those once again. There cannot be the slightest difference in this. You understand all these things. You know that He is the unlimited Father and also the Teacher and Satguru. There cannot be a human being like that. You call this one Baba; you call him Prajapita Brahma. This one also says: You will not receive the inheritance from me. Bapu Gandhiji was not the Father of People. The Father says: Do not become confused about these things. Tell them: We do not call Brahma, God or a deity. The Father has told us that He enters this one at the end of his many births, in his stage of retirement, in order to purify the whole world. Look at the picture of the tree and how he is standing at the very top. Everyone is now in their tamopradhan state of total decay. This one is also standing in the tamopradhan stage and has those same features. The Father enters him and names him Brahma. Otherwise, tell us where the name Brahma comes from. This one is impure and that one is pure. Those pure deities take 84 births and become impure human beings. This one is going to change from a human being into a deity. It is the duty of the Father to change human beings into deities. All of these are very wonderful matters that have to be understood. This one (Brahma) becomes that one (Vishnu) in a second and then he takes 84 births and becomes this one (Brahma). The Father enters this one and teaches him. You also study; there is also his dynasty. There are temples to Lakshmi and also to Narayan and Radhe and Krishna but no one knows that Radhe and Krishna are at first a princess and prince who then become Lakshmi and Narayan. From a beggar, this one will become a prince. The prince then becomes a beggar. These are such easy matters! The story of 84 births is in both these pictures. This one becomes that. Because it is a couple, they show him with four arms; it is the family path. Only the one Satguru takes you across. The Father explains to you so clearly, but you also then need divine virtues. If you were to ask a husband about his wife or ask the wife about her husband, each would instantly tell you what defects the other one has. They would either say: This one troubles me in this respect, or that they are both moving along fine. Or, they would say: Neither of us troubles the other, for both of us are moving along as companions and helping one another. Some try to make the other fall. The Father says: You have to change your nature very well. All of those have devilish natures. Deities have divine natures. You know all of these things. There wasn’t a war between the devils and the deities. How could those of the old world meet those of the new world? The Father says: People have sat and written about things that happened in the past and they are called stories. All the festivals etc. refer to this time. They have been celebrating them from the copper age onwards. They are not celebrated in the golden age. All of these matters have to be understood with the intellect. Because of body consciousness, children forget many pointsKnowledge is easy. All the knowledge can be imbibed in seven days. First of all, there has to be attention paid to the pilgrimage of remembrance. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. While acting in this unlimited play, observe the whole play as a detached observer. Do not become confused about it. While seeing anything of this world, do not let your intellect remember it.
  2. Change your devilish nature and imbibe a divine nature. Become helpers of one another as you move along. Do not distress anyone.
Blessing: May you be a contented soul who merges the one Comforter of Hearts in your heart and experiences every relationship in the One.
The brain is the storage place for the intellect, but the heart is the place for the Beloved. Some lovers use their heads a lot, but BapDada is pleased with those who have an honest heart. Therefore, it is the heart and the Comforter of Hearts that knows the experience of the heart. Those who serve and have remembrance with their hearts have to work less hard and they experience greater contentment. Those who work with their hearts constantly sing songs of contentment. They experience every relationship in the One according to the time.
Slogan: At amrit vela, sit with a plain intellect and you will be touched with new methods for doing service.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 15 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 October 2019

To Read Murli 14 October 2019:- Click Here
15-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – सतगुरू की पहली-पहली श्रीमत है देही-अभिमानी बनो, देह-अभिमान छोड़ दो”
प्रश्नः- इस समय तुम बच्चे कोई भी इच्छा वा चाहना नहीं रख सकते हो – क्यों?
उत्तर:- क्योंकि तुम सब वानप्रस्थी हो। तुम जानते हो इन आंखों से जो कुछ देखते हैं वह विनाश होना है। अब तुम्हें कुछ भी नहीं चाहिए, बिल्कुल बेगर बनना है। अगर ऐसी कोई ऊंची चीज़ पहनेंगे तो खींचेगी, फिर देह-अभिमान में फंसते रहेंगे। इसमें ही मेहनत है। जब मेहनत कर पूरे देही-अभिमानी बनो तब विश्व की बादशाही मिलेगी।

ओम् शान्ति। यह 15 मिनट वा आधा घण्टा बच्चे बैठे हैं, बाबा भी 15 मिनट बिठाते हैं कि अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। यह शिक्षा एक ही बार मिलती है फिर कभी नहीं मिलेगी। सतयुग में ऐसे नहीं कहेंगे कि आत्म-अभिमानी हो बैठो। यह एक ही सतगुरू कहते हैं, उनके लिए कहा जाता है एक सतगुरू तारे, बाकी सब बोरे (डुबोयें)। यहाँ बाप तुमको देही-अभिमानी बनाते हैं। खुद भी देही है ना। समझाने के लिए कहते हैं मैं तुम सभी आत्माओं का बाप हूँ, उनको तो देही बन बाप को याद नहीं करना है। याद भी वही करेंगे जो आदि सनातन देवी-देवता धर्म के भाती होंगे। भाती तो बहुत होते हैं ना, नम्बरवार पुरूषार्थ अनु-सार। यह बात बड़ी समझने और समझाने की है। परमपिता परमात्मा तुम सबका बाप भी है और फिर नॉले-जफुल भी है। आत्मा में ही नॉलेज रहती है ना। तुम्हारी आत्मा संस्कार ले जाती है। बाप में तो पहले से ही संस्कार हैं। वह बाप है, यह तो सब मानते भी हैं। फिर दूसरी उसमें खूबी है, जो उसमें ओरीज्नल नॉलेज है। बीजरूप है। जैसे बाप तुमको बैठ समझाते हैं तुमको फिर औरों को समझाना है। बाप मनुष्य सृष्टि का बीजरूप है फिर वह सत है, चैतन्य है, नॉलेजफुल है, उनको इस सारे झाड़ की नॉलेज है। और कोई को भी इस झाड़ की नॉलेज है नहीं। इनका बीज है बाप, जिसको परमपिता परमात्मा कहा जाता है। जैसे आम का झाड़ है तो उनका क्रियेटर बीज को कहेंगे ना। वह जैसे बाप हो गया परन्तु वह जड़ है। अगर चैतन्य होता तो उनको मालूम रहता ना – मेरे से झाड़ सारा कैसे निकलता है। परन्तु वह जड़ है, उसका बीज नीचे बोया जाता है। यह तो है चैतन्य बीजरूप। यह ऊपर रहते हैं, तुम भी मास्टर बीजरूप बनते हो। बाप से तुमको नॉलेज मिलती है। वह है ऊंच ते ऊंच। पद भी तुम ऊंच पाते हो। स्वर्ग में भी ऊंच पद चाहिए ना। यह मनुष्य नहीं समझते हैं। स्वर्ग में देवी-देवताओं की राजधानी है। राजधानी में राजा, रानी, प्रजा, गरीब-साहूकार आदि यह सब कैसे बने होंगे। अभी तुम जानते हो आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना कैसे हो रही है, कौन करते हैं? भगवान। बाप फिर कहते हैं – बच्चे, जो कुछ होता है ड्रामा के प्लैन अनुसार। सब ड्रामा के वश हैं। बाप भी कहते हैं मैं ड्रामा के वश हूँ। मेरे को भी पार्ट मिला हुआ है। वही पार्ट बजाता हूँ। वह है सुप्रीम आत्मा। उनको सुप्रीम फादर कहा जाता है, और तो सबको कहा जाता है ब्रदर्स। और कोई को फादर, टीचर, गुरू नहीं कहा जाता है। वह सबका सुप्रीम बाप भी है, टीचर, सतगुरू भी है। यह बातें भूलनी नहीं चाहिए। परन्तु बच्चे भूल जाते हैं क्योंकि नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार राजधानी स्थापन हो रही है। हर एक जैसे पुरूषार्थ करते हैं, वह झट स्थूल में भी मालूम पड़ जाता है – यह बाप को याद करते हैं वा नहीं? देही-अभिमानी बने हैं वा नहीं? यह नॉलेज में तीखा है, एक्टिविटी से समझा जाता है। बाप कोई को कुछ डाय-रेक्ट कहते नहीं हैं। फंक न हो जाएं। अफसोस में न पड़ जाएं कि यह बाबा ने क्या कहा, और सब क्या कहेंगे! बाप बतला सकते हैं कि फलाने-फलाने कैसी सर्विस करते हैं। सारा सर्विस पर मदार है। बाप भी आकर सर्विस करते हैं ना। बच्चों को ही बाप को याद करना है। याद की सबजेक्ट ही डिफीकल्ट है। बाप योग और नॉलेज सिखाते हैं। नॉलेज तो बहुत सहज है। बाकी याद में ही फेल होते हैं। देह-अभिमान आ जाता है। फिर यह चाहिए, यह अच्छी चीज़ चाहिए। ऐसे-ऐसे ख्यालात आते हैं।

बाप कहते हैं यहाँ तो तुम वनवास में हो ना। तुमको तो अब वानप्रस्थ में जाना है। फिर कोई भी ऐसी चीज़ नहीं पहन सकते हैं। तुम वनवास में हो ना। अगर ऐसी कोई दुनियावी चीज़ होगी तो खींचेगी। शरीर भी खींचेगा। घड़ी-घड़ी देह-अभिमान में ले आते हैं। इसमें है मेहनत। मेहनत बिगर विश्व की बादशाही थोड़ेही मिल सकती है। मेहनत भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार कल्प-कल्प करते आये हो, करते रहते हो। रिजल्ट प्रत्यक्ष होती जायेगी। स्कूल में भी नम्बरवार ट्रान्सफर होते हैं। टीचर समझ जाते हैं फलाने ने अच्छी मेहनत की है। इनको पढ़ाने का शौक है। फीलिंग आती है। उसमें तो एक क्लास से ट्रान्सफर हो दूसरे में फिर तीसरे में आ जाते हैं। यहाँ तो एक ही बार पढ़ना है। आगे चल जितना तुम नज़दीक आते जायेंगे उतना सब मालूम पड़ता जायेगा। यह बहुत मेहनत करनी है। जरूर ऊंच पद पायेंगे। यह तो जानते हैं, कोई राजा-रानी बनते हैं, कोई क्या बनते हैं, कोई क्या बनते हैं। प्रजा भी तो बहुत बनती है। सारा एक्टिविटी से मालूम पड़ता है। यह देह-अभिमान में कितना रहते हैं, इनका कितना लव है बाप से। बाप के साथ ही लव चाहिए ना, भाई-भाई का नहीं। भाइयों के लव से कुछ मिलता नहीं है। वर्सा सबको एक बाप से मिलना है। बाप कहते हैं – बच्चे, अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो तो तुम्हारे पाप कट जाएं। मूल बात ही यह है। याद से ताकत आयेगी। दिन-प्रतिदिन बैटरी भरती जायेगी क्योंकि ज्ञान की धारणा होती जाती है ना। तीर लगता जाता है। दिन-प्रतिदिन तुम्हारी उन्नति नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार होती रहती है। यह एक ही बाप-टीचर-सतगुरू है जो देही-अभि-मानी बनने की शिक्षा देते हैं, और कोई दे न सके और तो सब हैं देह-अभिमानी, आत्म-अभिमानी की नॉलेज कोई को मिलती ही नहीं। कोई मनुष्य बाप, टीचर, गुरू हो न सके। हर एक अपना-अपना पार्ट बजा रहे हैं। तुम साक्षी हो देखते हो। सारा नाटक तुमको साक्षी हो देखना है। एक्ट भी करना है। बाप क्रियेटर, डायरेक्टर, एक्टर हैं। शिवबाबा आकर एक्ट करते हैं। सबका बाप है ना। बच्चे अथवा बच्चियाँ सबको आकर वर्सा देते हैं। एक बाप है, बाकी सब हैं आत्मायें भाई-भाई। वर्सा एक बाप से ही मिलता है। इस दुनिया की तो कोई चीज़ बुद्धि में याद नहीं आती है। बाप कहते हैं जो कुछ देखते हो यह सब विनाशी हैं। अभी तो तुमको घर जाना है। वो लोग ब्रह्म को याद करते हैं गोया घर को याद करते हैं। समझते हैं ब्रह्म में लीन हो जायेंगे। इसको कहा जाता है अज्ञान। मनुष्य मुक्ति-जीवनमुक्ति के लिए जो कुछ कहते हैं वह रांग, जो कुछ युक्ति रचते हैं, सब है रांग। राइट रास्ता तो एक ही बाप बतलाते हैं। बाप कहते हैं हम तुमको राजाओं का राजा बनाता हूँ ड्रामा प्लैन अनुसार। कई कहते हैं हमारी बुद्धि में नहीं बैठता, बाबा हमारा मुख खोलो, कृपा करो। बाप कहते हैं इसमें बाबा को तो कुछ करने की बात ही नहीं है। मुख्य बात है तुमको डायरेक्शन पर चलना है। बाप का ही राइट डायरेक्शन मिलता है, बाकी सब मनुष्यों के हैं रांग डायरेक्शन क्योंकि सबमें 5 विकार हैं ना। नीचे ही उतरते-उतरते रांग बनते जाते हैं। क्या-क्या रिद्धि-सिद्धि आदि करते रहते हैं। उनमें सुख नहीं है। तुम जानते हो यह सब अल्पकाल के सुख हैं। उनको कहा जाता है काग विष्टा समान सुख। सीढ़ी के चित्र पर बहुत अच्छी रीति समझाना है और झाड़ पर भी समझाना है। कोई भी धर्म वाले को तुम दिखा सकते हो, तुम्हारा धर्म स्थापन करने वाला फलाने-फलाने समय पर आता है, क्राइस्ट फलाने टाइम आयेगा। जो और-और धर्मों में कनवर्ट हो गये हैं उन्हों को यह धर्म ही अच्छा लगेगा, फट निकल आयेंगे। बाकी कोई को अच्छा नहीं लगेगा तो वह पुरूषार्थ ही कैसे करेंगे। मनुष्य, मनुष्य को फांसी पर चढ़ाते हैं, तुमको तो एक बाप की ही याद में रहना है, यह बड़ी मीठी फांसी है। आत्मा की बुद्धि का योग है बाप की तरफ। आत्मा को कहा जाता है बाप को याद करो। यह याद की फाँसी है। फादर तो ऊपर रहते हैं ना। तुम जानते हो हम आत्मा हैं, हमको बाप को ही याद करना है। यह शरीर तो यहाँ ही छोड़ देना है। तुमको यह सारा ज्ञान है। तुम यहाँ बैठ क्या करते हो? वाणी से परे जाने के लिए पुरूषार्थ करते हो। बाप कहते हैं सबको मेरे पास आना है। तो कालों का काल हो गया ना। वह काल तो एक को ले जाते हैं, वह भी काल कोई है नहीं जो ले जाता। यह तो ड्रामा में सब नूँध है। आत्मा आपेही समय पर चली जाती है। यह बाप तो सब आत्माओं को ले जाते हैं। तो अब तुम सबका बुद्धियोग है अपने घर जाने के लिए। शरीर छोड़ने को मरना कहा जाता है। शरीर खत्म हो गया, आत्मा चली गई। बाप को बुलाते भी इसलिए हैं कि बाबा आकर हमको इस सृष्टि से ले जाओ। यहाँ हमको रहना नहीं है। ड्रामा के प्लैन अनुसार अब वापिस जाना है। कहते हैं बाबा यहाँ अपार दुख हैं। अब यहाँ रहना नहीं है। यह बहुत छी-छी दुनिया है। मरना भी जरूर है। सबकी वान-प्रस्थ अवस्था है। अभी वाणी से परे जाना है। तुमको कोई काल नहीं खायेगा। तुम खुशी से जाते हो। शास्त्र आदि जो भी हैं वह सब भक्ति मार्ग के हैं, यह फिर भी होंगे। ड्रामा की यह बड़ी वन्डरफुल बात है। यह टेप, यह घड़ी जो कुछ इस समय देखते हो वह सब फिर होगा। इसमें मूँझने की कोई बात ही नहीं है। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट का अर्थ ही है हूबहू रिपीट। अभी तुम जानते हो हम फिर से सो देवी-देवता बन रहे हैं, वही फिर बनेंगे। इसमें ज़रा भी फर्क नहीं पड़ सकता है। यह सब समझने की बातें हैं।

तुम जानते हो वह बेहद का बाप भी है, टीचर-सतगुरू भी है। ऐसा कोई मनुष्य हो न सके। इनको तुम बाबा कहते हो। प्रजापिता ब्रह्मा कहते हो। यह भी कहते हैं मेरे से तुमको वर्सा नहीं मिलेगा। बापू गांधी जी भी प्रजा-पिता नहीं था ना। बाप कहते हैं इन बातों में तुम मूँझो मत। बोलो हम ब्रह्मा को भगवान वा देवता आदि कहते ही नहीं हैं। बाप ने बताया है बहुत जन्मों के अन्त में, वानप्रस्थ अवस्था में मैं इनमें प्रवेश करता हूँ सारे विश्व को पावन बनाने के लिए। झाड़ में भी दिखाओ, देखो एकदम पिछाड़ी में खड़ा है। अब तो सब तमोप्रधान जड़जड़ीभूत अवस्था में हैं ना। यह भी तमोप्रधान में खड़े हैं, वही फीचर्स हैं। इसमें बाप प्रवेश कर इनका नाम ब्रह्मा रखते हैं। नहीं तो तुम बताओ ब्रह्मा नाम कहाँ से आया? यह है पतित, वह है पावन। वह पावन देवता ही फिर 84 जन्म ले पतित मनुष्य बनते हैं। यह मनुष्य से देवता बनने वाला है। मनुष्य को देवता बनाना – यह बाप का ही काम है। यह सब बड़ी वन्डरफुल समझने की बातें हैं। यह, वह बनते हैं सेकेण्ड में, फिर वह 84 जन्म ले यह बनते हैं। इनमें बाप प्रवेश कर बैठ पढ़ाते हैं, तुम भी पढ़ते हो। इनका भी घराना है ना। लक्ष्मी-नारायण, राधे-कृष्ण के मन्दिर भी हैं। परन्तु यह किसको भी पता नहीं है, राधे-कृष्ण पहले प्रिन्स-प्रिन्सेज हैं जो फिर लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। यह बेगर टू प्रिन्स बनेंगे। प्रिन्स सो बेगर बनते हैं। कितनी सहज बात है। 84 जन्मों की कहानी इन दोनों चित्रों में है। यह वह बनते हैं। युगल है इसलिए 4 भुजा देते हैं। प्रवृत्ति मार्ग है ना। एक सतगुरू ही तुम्हें पार ले जाते हैं। बाप कितना अच्छी रीति समझाते हैं फिर दैवीगुण भी चाहिए। स्त्री के लिए पति से पूछो वा स्त्री से पति के लिए पूछो तो झट बतायेगी इनमें यह खामियां हैं। इस बात में यह तंग करते हैं या तो कहेंगे हम दोनों ठीक चलते हैं। कोई किसको तंग नहीं करते हैं, दोनों एक-दो के मददगार साथी होकर चलते हैं। कोई एक-दो को गिराने की कोशिश करते हैं। बाप कहते हैं इसमें स्वभाव को अच्छी रीति बदलना पड़ता है। वह सब है आसुरी स्वभाव। देवताओं का होता ही है दैवी स्वभाव। यह सब तुम जानते हो, असुरों और देवताओं की युद्ध लगी नहीं है। पुरानी दुनिया और नई दुनिया के आपस में मिल कैसे सकते हैं। बाप कहते हैं पास्ट बातें जो होकर गई हैं उनको बैठ लिखा है, उनको कहानियाँ कहेंगे। त्योहार आदि सब यहाँ के हैं। द्वापर से लेकर मनाते हैं। सतयुग में नहीं मनाये जाते। यह सब बुद्धि से समझने की बातें हैं। देह-अभिमान के कारण बच्चे बहुत प्वाइंट्स भूल जाते हैं। नॉलेज तो सहज है। 7 रोज़ में सारी नॉलेज धारण हो सकती है। पहले अटेन्शन चाहिए याद की यात्रा पर। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस बेहद नाटक में एक्ट करते हुए सारे नाटक को साक्षी होकर देखना है। इसमें मूँझना नहीं है। इस दुनिया की कोई भी चीज़ देखते हुए बुद्धि में याद न आये।

2) अपने आसुरी स्वभाव को बदल दैवी स्वभाव धारण करना है। एक-दो का मददगार होकर चलना है, किसी को तंग नहीं करना है।

वरदान:- दिल में एक दिलाराम को समाकर एक से सर्व संबंधों की अनुभूति करने वाले सन्तुष्ट आत्मा भव
नॉलेज को समाने का स्थान दिमाग है लेकिन माशूक को समाने का स्थान दिल है। कोई-कोई आशिक दिमाग ज्यादा चलाते हैं लेकिन बापदादा सच्ची दिल वालों पर राज़ी है इसलिए दिल का अनुभव दिल जाने, दिलाराम जाने। जो दिल से सेवा करते वा याद करते हैं उन्हें मेहनत कम और सन्तुष्टता ज्यादा मिलती है। दिल वाले सदा सन्तुष्टता के गीत गाते हैं। उन्हें समय प्रमाण एक से सर्व संबंधों की अनुभूति होती है।
स्लोगन:- अमृतवेले प्लेन बुद्धि होकर बैठो तो सेवा की नई विधियां टच होंगी।

TODAY MURLI 15 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 15 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 14 October 2018 :- Click Here

15/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, your intellects should work for unlimited service.Make a large clock with hands of radium so that it can be seen shining from a distance.
Question: What method should you use to increase service?
Answer: Invite the clever maharathi children to your centre. S ervi ce will grow when the maharathi children continue to tour around. You should not think that regard for you would decrease if you did this. You children should never become body conscious. Have a great deal of regard for the maharathis.
Song: This time is passing by.

Om shanti. When I heard the word ‘clock’ I remembered the unlimited clock. This is an unlimited clock. It is all a matter of using your intellect to understand. That clock has a large hand as well as a small hand. The large hand of seconds continues to move. It is now midnight which means that the night is ending and the day is about to begin. Therefore, how big should you make this unlimited clock? You should make its hands of radium so that they can be seen shining from a distance. The clock explains itself. When a newcomer comes, let him come and see the clock. The intellect says that the hand of the clock has now truly reached the end so that anyone can understand from seeing it that destruction definitely has to take place and that the golden age will start again. There are very few souls in the golden age and so all the other souls will definitely go back home. It is very easy to understand with pictures. If anyone were to create such a clock, many people would buy this clock to have at their home. You have to explain that this iron-aged world is degraded. There are many religions. Destruction is standing ahead. There will also be natural calamities. Now, how did Lakshmi and Narayan receive their kingdom of the golden age? Surely, they must have received it from the Father. The Purifier comes into the impure world at the confluence age. The Father does not have to come into the pure world. This is a first  class aspect in the explanation of the cycle and it is very easy to explain this to anyone. Those who have a lot of money should quickly order an artist to prepare these pictures straight away. Any Government task is done just like that, whereas here scarcely any do such tasks. If a very good artist painted these pictures well, they would look very nice. Nowadays there is great regard for art. They perform the art of dance so much. They believe that, previously, there used to be such dancing, but that was not so. Therefore, you should have these unlimited clocks made instantly so that people can understand very clearly. The colour should also be good so that it constantly sparkles. No human being can be the Purifier. Human beings are impure and this is why theysing. The pure world is heaven. People don’t know that it is Krishna who becomes ugly and then becomes beautiful. This is why he is called the ugly and the beautiful one. Previously, we did not understand this either. It is now in our intellects that by sitting on the pyre of lust we definitely become ugly, that is, souls become impure. You also have to write clearly that the Supreme Father, the Supreme Soul, gives you your inheritance and that Ravan curses you. However, people’s intellects go towards King Rama of the Raghav clan of the silver age, but Rama is the Supreme Father, the Supreme Soul. You should use your intellects to create these pictures, because these days everyone calls himself God. You understand that there is only one Father and that all souls will go and reside in the supreme abode with the Supreme Soul. At that time, the Father is the Master of Brahmand (the element of light) and we souls are also the masters of Brahmand. The Father says: I am making you into the masters of the world. No other king, no matter how great he may be, can claim to be the master of the world. The Father is making you into the masters of the world. Therefore, you should surrender yourselves to such a Mother and Father. His shrimat is very well known. By following it, you will gradually be able to follow it fully by the end. If you were to follow it fully at present, you would become elevated. You have to beat your heads so much! Your efforts will continue for as long as the sacrificial fire lasts. This is the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. People also create sacrificial fires of Rudra in order to attain peace. However, there can’t be peace through those. There is only the one sacrificial fire created by the Father into which the ingredients of the whole world are sacrificed and through which you attain liberation-in-life in a second. They create so many sacrificial fires, yet there is no benefit in them. You children are non-violent. No one can go to heaven without becoming pure. This is the final period. You have to write that this is the impure world, the corrupt world of Ravan. There is 100% impurity, peacelessness, sorrow and disease, whereas in the golden age everyone is elevated. There is 100% purity, happiness and peace and everyone is free from disease. That is Ravan’s curse and this is the inheritance from Shiv Baba. Your literature should fully explain from what time to what time Bharat was elevated and then, from what time to what time it became degraded. The literature should be such that anyone simply glancing at it can understand these things. By explaining to others, your intellect’s intoxication will rise. By staying engaged in this business, you will develop this practi ce. People go to work for eight hours and so you have to do this service for eight hours. The daughters who live at the centres are also numberwise. Some have a lot of interest in doing service; they are constantly running around everywhere whereas others simply sit down somewhere in comfort. Such souls cannot be called all-rounders. Because they don’t think much of the maharathis, service becomes slack. Many have a lot of arrogance about themselves. They think that people should have regard for them and that if anyone else came to their centre, their regard would decrease. They don’t understand that the maharathis who come would help them. They are arrogant about themselves; there are such foolish ones. The Father says: The Lord and Master is pleased with an honest heart. Baba continues to receive all the news and is able to know the pulse of each one. This Baba is also experienced. The explanation of the cycle is very good. When you give this explanation of yours, service will become very fast and great. At present, service is at an ant’s pace. Because you remain body conscious, your intellects do not function well. You now have to do fast service. The intellects of serviceable children continue to work on what should be created. It is very easy to explain using pictures. It is now the iron age and the golden age is being established. It is the Father who takes everyone back. There, there is happiness whereas here, there is sorrow and all are impure. Impure human beings cannot grant liberation or liberation-in-life to anyone. All of those gurus teach you activities of the path of devotion. All the gurus belong to the path of devotion. There are no gurus on the path of knowledge. Here, you have to make a lot of effort. To make Bharat into heaven is a game of magic and this is why He is called the Magician. Krishna cannot be called the Magician. It is that Father who makes Krishna beautiful from ugly. You need great intoxication in order to explain this. You should go out to serve. The poor take to this knowledge very well. There is less hope for the rich. Against one hundred poor ones, there would probably be one or two rich ones and five or seven ordinary ones that emerge. Everything continues like this. There isn’t much concern for wealth. Just look how many armaments the Government makes. Both sides understand that there will be destruction; we will attain destruction. Then, who will become the hunter? There is the story of the two cats fighting for the butter and the monkey taking it from between them. Krishna has been portrayed with butter in his mouth. That butter represents heaven. Hardly anyone understands these things. Even those who have been here for 20 to 25 years don’t understand anything. When Baba created the bhatti, many came and many flew away. Even so, many remained here. The same thing happened in the previous cycle of the drama and the same thing is happening now. The larger the pictures are made, the easier it is to explain them to others. The picture of Lakshmi and Narayan is essential. From the picture of the tree, it is understood when the cult of devotion begins. The first two ages represent the day of Brahma and the other two represent the night of Brahma. Human beings don’t understand anything and then they say that Brahma is in the subtle region. The Father of Humanity would definitely be here. These are such deep matters that they cannot be found in the scriptures. All the pictures that human beings have been looking at are wrong and all the knowledge they have been listening to is wrong. Brahma has been portrayed with many arms. All of those scriptures etc. are the paraphernalia of the path of devotion. No one in the world knows when it began. Human beings do so much devotion because they believe that it’s impossible to meet God without doing devotion. However, it is only when you have become completely degraded that you can meet God and be granted salvation by Him. Only you know this calculation. Devotion begins after half the cycle. The Father says: All the Vedas, Upanishads, sacrificial fires and tapasya etc. belong to the path of devotion. All of that is going to end. Everyone has to become ugly so that the Father has to come and make you beautiful. The Father says: I come at the confluence of every cycle, not in every age. They show My incarnation in a crocodile, a fish etc. If they are the incarnations of God, how could He also be in the pebbles and stones? Human beings have become so senseless! The Father has come and made you so sensible. You have to sing the praise of the Supreme Father, the Supreme Soul, of how He is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Purity. This cannot be the praise of Krishna. Devotees of Krishna say that he is omnipresent. They cling to him so much! You have to release them from that and give them the introduction of the Father. All souls are brothers and so how could they all be the Father ? In that case, whom would you remember? It is the children who remember God, the Father. Those who explain this should have unlimited intellects. The intellects of the children are trapped in the limited; they just sit in one place. Businessmen open large branches in many places. The more centres they open, the better manager s they become. However, it then also depends on the centre. These are the shops of the imperishable jewels of knowledge. Whom do they belong to? To the Ocean of Knowledge. Krishna did not have this knowledge, nor did a battle take place at that time. There are many points which you have to imbibe and explain. The pictures should be put up in a gathering so that everyone can see them. The picture of the clock is very good. By knowing this cycle you become the rulers of the globe. You have to become spinners of the discus of self-realisation. It is very easy to explain with the picture of the clock. So many children who have been here for so long do not become worthy at all. They consider themselves to be very clever. They remain pleased with themselves for no reason. If you don’t do service, who would think that you are a donor? When you donate, should you donate golden guineas or just a few pennies? These pictures are like mirrors for the blind. They will be able to see their faces in these mirrors. Previously, you saw a monkey’s face and now your face is becoming worthy of being in a temple. You have to make effort in order to become worthy of being in a temple. This is the impure world whereas the world that Shiv Baba is creating will be completely pure. The intellects of those who do not follow shrimat are not able to imbibe any of this. The Father says: Day by day, I explain deeper aspects to you and this knowledge will definitely grow. Some ask the question: How can there be eight kingdoms? According to these calculations there should be this many kingdoms. The Father says: Why do you people go into this? First, remember the Father and His inheritance. Whatever customs and systems are there they will continue. Children will be born there as per the system there. Why do you go into that? Why do you allow your mouths to bring up the subject of vice? It is very good to give these pictures to someone as a gift. They are God f atherly gifts. Who wouldn’t accept such a God f atherly gift? Christians do not accept literature from anyone else because they have pride in their own religion. The Father says: The deity religion is the highest of all. People think that they would receive a lot of money from the Christians. However, these things are about knowledge. Only those who take this knowledge will receive the inheritance from the Father. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Sacrifice yourself from deep within your heart to the Mother and Father who makes you into a master of the world. Follow His shrimat very well and become elevated.
  2. Always keep your heart honest. Do not become arrogant. Donate the golden guineas and become a maharathi in donating knowledge. You must definitely do eight hours a day of Godly service.
Blessing: May you become a totally successful server who remains constantly carefree by giving all the burdens of your responsibilities to the Father.
The children who remain light are themselves able to ascend and ascend in service too, that is, they continue to make progress. Therefore, give the burdens of all your responsibilities to the Father and remain carefree. Let there not be any type of burden of the consciousness of “I”. Simply maintain the intoxication of remembrance. Remain combined with the Father for where there is the Father, service is already accomplished. When Karankaravanhar is making you do everything, you will then remain light and you will have total success.
Slogan: Know with certainly every scene of the unlimited drama and remain constantly carefree.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 15 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 October 2018

To Read Murli 14 October 2018 :- Click Here
15-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बेहद सर्विस के लिए तुम्हारी बुद्धि चलनी चाहिए। ऐसी बड़ी घड़ी बनाओ जिसके कांटों में रेडियम हो जो दूर से ही चमकता रहे।
प्रश्नः- सर्विस की वृद्धि के लिए कौन-सी युक्ति रचनी चाहिए?
उत्तर:- जो-जो महारथी होशियार बच्चे हैं उनको अपने पास बुलाना चाहिए। महारथी बच्चे चक्कर लगाते रहें तो सर्विस वृद्धि को पाती रहेगी। इसमें ऐसा नहीं समझना चाहिए कि हमारा मान कम हो जायेगा। बच्चों को कभी भी देह-अभिमान में नहीं आना चाहिए। महारथियों का बहुत-बहुत रिगार्ड रखना चाहिए।
गीत:- यह वक्त जा रहा है …….. 

ओम् शान्ति। घड़ी का नाम सुना तो बेहद की घड़ी याद पड़ी। यह है बेहद की घड़ी, इसमें सारी बुद्धि से समझने की बात है। उनका भी बड़ा कांटा और छोटा कांटा है। सेकेण्ड का बड़ा कांटा चलता रहता है। अब रात के 12 बजे हैं यानी रात पूरी हो फिर दिन शुरू होना है। यह बेहद की घड़ी कितनी बड़ी होनी चाहिए। इसमें कांटे जो बनाये जाएं उसमें रेडियम भी देना चाहिए, जो दूर से चमकता रहे। घड़ी तो अपने आप समझाती है। कोई भी नया आये तो घड़ी आकर देखे। बुद्धि भी कहती है बरोबर कांटा अन्त में आकर पहुँचा है। कोई भी समझ सकता है कि विनाश जरूर होना चाहिए। फिर है सतयुग की आदि। सतयुग में बहुत थोड़ी आत्मायें होती हैं। तो इतनी सब आत्मायें जरूर वापिस जाती होंगी। चित्रों पर समझना है बहुत सहज। ऐसी घड़ी कोई बनाये तो बहुत खरीद करके भी घर में रखें। इन पर समझाना है। यह कलियुगी भ्रष्टाचारी दुनिया है। अनेक धर्म भी हैं। विनाश भी सामने खड़ा है। नेचुरल कैलेमिटीज भी होनी है। अब इन लक्ष्मी-नारायण आदि को भी सतयुग की बादशाही कैसे मिली? जरूर बाप द्वारा मिली होगी। पतित-पावन आते ही हैं पतित दुनिया में, संगम पर। पावन दुनिया में तो बाप को आना नहीं है। यह गोले पर समझाने के लिए बड़ी फर्स्टक्लास बात है और इस पर समझाना किसको भी बड़ा सहज है। जिनके पास पैसे बहुत हैं वह तो आर्टिस्ट को झट ऑर्डर दे और झट चीज तैयार हो जाए। गवर्मेन्ट का काम तो इतने में हो जाता, यहाँ तो मुश्किल कोई काम करते हैं। कोई अच्छा आर्टिस्ट चित्र बनाता है तो वह शोभता भी है। आजकल आर्ट का मान बहुत है। डांस का आर्ट कितना दिखाते हैं, समझते हैं पहले ऐसे डांस होते थे। परन्तु ऐसे कोई है नहीं। तो यह बेहद की घड़ी फट से बनानी चाहिए। जो अच्छी रीति मनुष्य समझ जाएं। कलर भी ऐसा अच्छा हो जो चमकता रहे। पतित-पावन कोई मनुष्य तो हो नहीं सकता। मनुष्य पतित हैं ना तब तो गाते हैं। पावन दुनिया भी स्वर्ग है। मनुष्य तो नहीं समझते कि कृष्ण ही श्याम है फिर सुन्दर बनता है इसलिए नाम पड़ा है श्याम-सुन्दर। हम भी पहले नहीं समझते थे, अभी बुद्धि में है बरोबर काम चिता पर बैठने से काला हो जाता है अर्थात् आत्मा पतित हो जाती है। यह भी स्पष्ट करके लिखना है। वर्सा देते हैं परमपिता परमात्मा और श्राप देते हैं रावण। मनुष्यों की बुद्धि फिर चली जाती है रघुपति राघव राजा राम तरफ, परन्तु राम तो है परमपिता परमात्मा। यह सब बुद्धि चलाकर चित्र बनाना चाहिए क्योंकि आजकल अपने को भगवान् तो सब कहते रहते। तुम जानते हो बाप तो एक ही है। बाकी हम सब आत्मायें परमधाम में परमात्मा के साथ जाकर रहेंगी। उस समय बाप भी ब्रह्माण्ड का मालिक, हम भी ब्रह्माण्ड के मालिक हैं। फिर बाप कहते हैं तुम बच्चों को मैं विश्व का मालिक बनाता हूँ। और भल कोई कितना भी बड़ा राजा हो ऐसे नहीं कहेंगे कि हम विश्व के मालिक हैं। बाप तो विश्व का मालिक बना रहे हैं। तो ऐसे मात-पिता पर कितना कुर्बान जाना चाहिए। उनकी श्रीमत मशहूर है। उस पर चलते-चलते पिछाड़ी में आकर श्रीमत का पूरा पालन करते हैं। अभी अगर श्रीमत पर पूरा चलें तो श्रेष्ठ बन जाएं, कितना माथा मारना पड़ता है। जब तक यज्ञ है तब तक पुरुषार्थ चलता रहेगा।

यह है रुद्र ज्ञान यज्ञ। वह भी रुद्र यज्ञ करते हैं शान्ति के लिए। उससे तो शान्ति हो न सके। बाप का तो एक ही यज्ञ है, जिसमें सारी सामग्री स्वाहा हो जाती है और सेकेण्ड में जीवनमुक्ति मिलती रहती है। वह कितने यज्ञ रचते हैं, फायदा कोई नहीं। तुम बच्चे हो नानवायोलेन्स। पवित्रता बिगर कोई स्वर्ग में जा न सके। यह है पिछाड़ी का समय। पतित दुनिया, भ्रष्टाचारी रावण की दुनिया, 100 प्रतिशत अपवित्रता, अशान्ति, दु:खी, रोगी….. यह सब लिखना पड़े और फिर स्वर्ग में हैं श्रेष्ठाचारी, 100 प्रतिशत पवित्रता-सुख-शान्ति निरोगी। वह है रावण का श्राप, यह है शिवबाबा का वर्सा – पूरी लिखत होनी चाहिए। भारत फलाने समय से फलाने समय तक श्रेष्ठाचारी था फिर फलाने समय से भ्रष्टाचारी बना है। लिखत ऐसी हो जो देखने से समझ जाएं। समझाने से भी बुद्धि में नशा चढ़ेगा। इस धन्धे में ही रहने से फिर प्रैक्टिस हो जायेगी। वह सर्विस 8 घण्टा करते हैं तो यह भी 8 घण्टा करनी चाहिए। सेन्टर पर बच्चियाँ जो हैं उनमें भी नम्बरवार हैं। कोई को तो सर्विस का बहुत शौक है। जहाँ-तहाँ भागते रहते हैं। कोई तो एक ही जगह पर आराम से बैठ जाते हैं, उनको आलराउन्डर नहीं कहेंगे। महारथियों को तो कुछ समझते नहीं हैं तो सर्विस भी ढीली पड़ जाती है। बहुतों को अपना अंहकार बहुत रहता है। हमारा मान हो, दूसरा कोई आयेगा तो हमारा मान कम हो जायेगा। यह नहीं समझते कि महारथी तो मदद करेंगे। अपना अहंकार रहता है, ऐसे भी बुद्धू हैं। बाप कहते हैं सच्ची दिल पर ही साहेब राज़ी होता है। बाबा के पास समाचार तो आते रहते हैं ना। बाबा हर एक की रग को समझते हैं। यह बाबा भी अनुभवी है।

तो यह गोले की समझानी बहुत अच्छी है। यह समझानी तुम्हारी निकलेगी तो तुम्हारी सर्विस बहुत अच्छी विहंग मार्ग की हो जायेगी। अभी तो चींटी मार्ग की सर्विस है। अपने ही देह-अभिमान में रहते हैं, इसलिए बुद्धि चलती नहीं। अभी यह है विहंग मार्ग की सर्विस। सर्विसएबुल बच्चों का माथा चलता रहेगा – क्या-क्या बनाना चाहिए। चित्रों पर समझाना बहुत सहज है। अभी कलियुग है, सतयुग स्थापन होता है। बाप ही सबको वापिस ले जायेंगे। वहाँ है सुख, यहाँ है दु:ख। सब पतित हैं। पतित मनुष्य कोई को भी मुक्ति-जीवनमुक्ति दे नहीं सकते हैं। यह सब हैं भक्ति मार्ग की कारोबार सिखलाने वाले। गुरू सब हैं भक्ति मार्ग के। ज्ञान मार्ग का गुरू कोई है नहीं। यहाँ तो कितनी मेहनत करनी पड़ती। भारत को स्वर्ग बनाने में जादूगरी का खेल हैं ना इसलिए उनको जादूगर भी कहते हैं। कृष्ण को कभी जादूगर नहीं कहेंगे। कृष्ण को भी श्याम से सुन्दर बनाने वाला वह बाप है। समझाने का बड़ा नशा चाहिए। बाहर में जाना चाहिए। गरीब ही अच्छा उठाते हैं। साहूकारों में उम्मीद कम रहती है। 100 गरीब तो एक-दो साहूकार, 5-7 साधारण निकलेंगे। ऐसे ही काम चलता है। धन की इतनी दरकार नहीं रहती, गवर्मेन्ट ने देखो कितना बारूद बनाया है। दोनों समझते हैं विनाश हो जायेगा, हम विनाश को पायेंगे, तब मलूक (शिकारी) कौन बनेंगे? कहानी है ना दो बिल्ले लड़े मक्खन बीच में बन्दर को मिल गया। कृष्ण के मुख में मक्खन दिखाते हैं। है यह स्वर्ग रूपी मक्खन। यह बातें मुश्किल कोई समझ सकते हैं। यहाँ 20-25 वर्ष रहने वाले भी कुछ नहीं समझते। पहले-पहले भट्ठी बनी, उसमें कितने आये, कितने चले गये। कोई जम गये हैं। ड्रामा में कल्प पहले भी ऐसे ही हुआ था। अब भी ऐसे हो रहा है। चित्र जितने बड़े होंगे उतना कोई को भी समझाना सहज होगा। लक्ष्मी-नारायण का चित्र भी जरूरी है। झाड़ से पता पड़ता है भक्ति कल्ट कब से शुरू होता है। ब्रह्मा की रात दो युग फिर ब्रह्मा का दिन दो युग। मनुष्य तो समझते नहीं फिर कहेंगे ब्रह्मा तो सूक्ष्मवतन में है। परन्तु प्रजापिता तो जरूर यहाँ ही होगा। कितने गुह्य राज़ हैं जो शास्त्रों में तो हो नहीं सकते। मनुष्यों ने सब उल्टे चित्र देखे हैं, उल्टा ज्ञान सुना है। ब्रह्मा को भी बहुत भुजायें दी हैं। यह जो भी शास्त्र आदि हैं वह सब हैं भक्ति मार्ग की सामग्री। यह कब से शुरू होती है, दुनिया नहीं जानती। मनुष्य भक्ति कितनी करते हैं, समझते हैं भक्ति बिगर भगवान् मिल नहीं सकता। लेकिन जब पूरी दुर्गति हो तब तो भगवान् मिलेगा सद्गति के लिए। यह हिसाब-किताब तुम जानते हो। आधाकल्प से भक्ति शुरू होती है। बाप कहते हैं – यह वेद, उपनिषद, यज्ञ-तप आदि सब हैं भक्ति मार्ग के। यह सब ख़त्म होने हैं। सबको काला बनना ही है फिर गोरा बनाने बाप को आना पड़े। बाप कहते हैं मैं कल्प के संगम युगे-युगे आता हूँ, न कि युगे-युगे। दिखाते हैं कच्छ अवतार, मच्छ अवतार, परशुराम अवतार……..। यह भगवान् के अवतार हैं, फिर पत्थर-भित्तर में भगवान् कैसे हो सकता है। मनुष्य कितने बेसमझ हो गये हैं। बाप ने आकर कितना समझदार बनाया है। महिमा भी करनी पड़े – परमपिता परमात्मा ज्ञान का सागर, पवित्रता का सागर है। कृष्ण की यह महिमा हो नहीं सकती। कृष्ण के भक्त फिर कृष्ण के लिए कह देते हैं कि सर्वव्यापी है। कितना चटक पड़ते हैं। उनसे निकालकर फिर बाप का परिचय देते हैं सब आत्मायें भाई-भाई हैं, सब फादर थोड़ेही हो सकते हैं, फिर याद किसको किया जाता है? गॉड फादर को बच्चे याद करते हैं, समझाने वाला भी बेहद बुद्धि वाला चाहिए। बच्चों की बुद्धि हद में फंस पड़ती है। एक जगह ही बैठ जाते हैं। बिजनेसमैन जो होते हैं वह बड़ी-बड़ी ब्रान्चेज खोलते हैं। जितना जो सेन्टर्स खोले वह मैनेजर अच्छा। फिर सेन्टर पर भी मदार है। यह है अविनाशी ज्ञान रत्नों की दुकान। किसकी? ज्ञान सागर की। कृष्ण में तो यह नॉलेज थी नहीं, न उस समय लड़ाई ही लगी है। प्वाइन्ट तो बहुत हैं, जो धारण कर समझानी है। सभा में चित्र रखे हों जो सब देखें। घड़ी का चित्र बहुत अच्छा है। इस चक्र को जानने से चक्रवर्ती बनेंगे। स्वदर्शन चक्रधारी बनना है। घड़ी पर समझाना बहुत सहज है। कितने पुराने बच्चे लायक ही नहीं बनते। अपने को मिया मिट्ठू समझ बैठते, फालतू खुश होते। सर्विस नहीं करेंगे तो कौन समझेंगे कि यह दानी हैं। दान भी अशर्फियों का करना चाहिए या पाई पैसे का? यह चित्र अन्धों के आगे आइना है। आइने में अपना मुख देखेंगे। पहले बन्दर की शक्ल थी, अभी मन्दिर की शक्ल बन रही है। मन्दिर में रहने लायक बनने का पुरुषार्थ करना है। यह है पतित दुनिया, वह है पावन दुनिया, जो शिवबाबा स्थापन कर रहे हैं। जो श्रीमत पर नहीं चलते उनकी बुद्धि में कभी धारणा हो नहीं सकती। बाप कहते हैं प्रतिदिन तुमको गुह्य बताता हूँ तो जरूर ज्ञान की वृद्धि होती जायेगी।

कोई-कोई प्रश्न उठाते हैं – 8 बादशाही कैसे चलेगी? इस हिसाब से इतनी बादशाही होनी चाहिए। बाप कहते हैं तुम लोग इन बातों में क्यों पड़ते हो? पहले बाप और उनके वर्से को तो याद करो। वहाँ की जो रस्म रिवाज होगी वह चलेगी। बच्चे जिस रीति से पैदा होते होंगे, उस रीति से होंगे। तुम क्यों इसमें जाते हो? विकार की बात मुख पर क्यों लाते हो? यह चित्र किसको सौगात में देना बहुत अच्छा है। यह गॉड फादरली गिफ्ट है। ऐसी गॉड फादरली गिफ्ट कौन नहीं ले जायेंगे। क्रिश्चियन लोग और किसका लिटरेचर आदि नहीं लेते, उनको अपने धर्म का नशा रहता है। बाप तो कहते हैं देवता धर्म सबसे ऊंच है। वह समझते हैं कि हमको इन क्रिश्चियन से बहुत पैसे मिलते हैं। परन्तु यह तो ज्ञान की बातें हैं। जो ज्ञान उठाते हैं वही बाप से वर्सा पाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) विश्व का मालिक बनाने वाले मात-पिता पर दिल से कुर्बान जाना है। उनकी श्रीमत पर अच्छी रीति चल श्रेष्ठ बनना है।

2) अपनी दिल सदा सच्ची रखनी है। अहंकार में नहीं आना है। अशर्फियों का दान करना है। ज्ञान दान करने में महारथी बनना है। 8 घण्टा ईश्वरीय सर्विस जरूर करनी है।

वरदान:- अपनी जिम्मेवारियों के सब बोझ बाप को दे सदा निश्चिंत रहने वाले सफलता सम्पन्न सेवाधारी भव
जो बच्चे जितना स्वयं हल्के रहते हैं, उतना सेवा और स्वयं सदा ऊपर चढ़ते रहते अर्थात् उन्नति को पाते रहते इसलिए सब जिम्मेवारियों के बोझ बाप को देकर स्वयं निष्फुरने रहो। किसी भी प्रकार के मैं पन का बोझ न हो। सिर्फ याद के नशे में रहो। बाप के साथ कम्बाइन्ड रहो तो जहाँ बाप है वहाँ सेवा तो स्वत: हुई पड़ी है। करावनहार करा रहा है तो हल्के भी रहेंगे और सफलता सम्पन्न भी बन जायेंगे।
स्लोगन:- बेहद ड्रामा के हर दृश्य को निश्चित जानकर सदा निश्चिंत रहो।
Font Resize