15 october 2017

TODAY MURLI 15 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (ENGLISH)

Today Murli Brahma kumaris : 15 OCTOBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 14 October 2017 :- Click Here

15/10/17
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
15/02/83

on the completion of the World Peace Conference.

Today, the unlimited Father is seeing His serviceable children who are instruments for service. Whichever child He looks at, each one is more elevated than the next. So, BapDada is seeing the speciality of every elevated and serviceable soul. BapDada is pleased that every child is an image of support and an image of upliftment for the task of world transformation. All the children are constantly co-operating in BapDada’s task. Seeing such co-operative, easy yogis, such special elevated souls, the children who are instruments for service, BapDada, as well as holding a welcome ceremony, is congratulating the children with golden flowers of love. BapDada is seeing every child in the form of a sparkling jewel of the forehead, a jewel of contentment and a jewel of the heart. BapDada is also constantly singing a song. Do you know what song He sings? He sings the song: Wah My children! Wah! Wah sweet children! Wah! Wah the loveliest of the lovely children! Wah! Wah elevated souls! Wah! You have such constant faith and intoxication, do you not? At no other time throughout the whole cycle, can you children attain such fortune that God sings songs about you children. Devotees sing many songs praising God. All of you have also sung many songs but did you ever think that even God would sometimes sing songs about you children? You are seeing in the corporeal form what you never even imagined. You have just had a conference for World Peace. All the children said very good things and, by becoming suns of knowledge, you also spread vibrations of pure thoughts, good wishes and pure feelings for all souls everywhere with your minds. However, BapDada is giving the essence of all the lectures that were given. You give lectures for four days and BapDada gives a lecture of just a second. The two words are “realisation” and “solution”. The essence of what all of you said is realisation. Even if they don’t understand the soul, if they just understand the value of human life, there can be peace. Human beings are particularly powerful. If they as human beings were to realise this, then the religion of humanity would be love and not fighting or quarrelling. The next step – the basis of human life and of humanity – depends on the soul: what type of soul am I? What am I? When there is this realisation, they will be able to maintain their original religion of peace. Then, move on from here. “I am an elevated soul. I am a child of the Almighty Authority”. From being weak, this realisation will make you powerful. Powerful souls and master almighty authority souls can do whatever they want -and however they want – in a practical way. This is why you were told that there is only one essence of all the lectures: realisation. So BapDada heard all the lectures. BapDada is constantly with the children. Achcha.

All the souls who are surrendered in service and all the children who have come from the different zones, each of you understand that BapDada is speaking to you. He is speaking to each one of you individually. In return for all the practical proof that all you children have shown, BapDada is seeing your form together with your name and is congratulating you by name. You are now warning everyone of the changing times; there also has to be a change in the way of meeting BapDada. All of you have been thinking that, when your family grows in number, the older ones will have to renounce everything. However, this renunciation is fortune. To make others move forward is to make yourself move forward. Don’t think that BapDada loves the children abroad and not those in this land. Or that He loves special children. Every child is the support of the heart for BapDada and is a jewel of the crown on the head. This is why BapDada is giving love from the very depths of His heart to all His right hand , co-operative children.

Certainly, all of you, who have come from far away to bring those who are just contacts into a relationship, are making them move forward in great happiness and will continue to do so.

So, at this time, all of you have come for service. Therefore, this too was service that has been accomplished. Should Baba mention the name of every zone? What if He were to mention one name and leave someone else’s name out? This is why all the zones should feel that BapDada is placing their zone as the number one zone. All of those from this land and abroad are all at present residents of Madhuban. This is why BapDada is telling all the children who are present in the World Peace Hall, the children who are residents of Om Shanti Bhavan: Constantly stay in remembrance, remind others of Baba and continue to progress at every step by making each action a memorial. At every second, continue to grant to all souls a vision of the self and the Father in the mirror of your practical life. To such children who are bestowers of blessings and great donors, ones who are constantly full, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Elevated versions for Dr Robert Muller (Assistant Secretary General of the UN)

In service, you are a soul who has the most elevated part of all. You have this elevated thought in your mind, that whatever task you have become an instrument for, you will definitely accomplish that. With help from BapDada and the whole Brahmin family, this thought will continue to be fulfilled in the corporeal form. Your thought is very good and you think of very good plans. Now, when this spiritual power is added to this plan, this plan will continue to take practical shape. All the enthusiasm of the children continues to reach BapDada. Remain constantly unshakeable; be courageous and continue to move forward. You will see with your eyes the day when the flag of world peace is hoisted everywhere in the world. So, continue to move on. People of the world will try to dishearten everyone, but you mustn’t do this. Continue to move along with one Strength and one Support. Whenever any situation comes in front of you, make the Father your Companion and you will experience that you are not alone, but that you have a special power with you, and your dream will be fulfilled. Where the Father is, no matter how many storms come, they will become a gift. “Victorious with faith in the intellect”. Remember this title and that you are victorious jewel who has faith in the intellect. Achcha.

BapDada meeting Uncle Steve Naraine (the Vice-President of Guyana) :

Do you experience yourself to be a close jewel who is seated on the Father’s heart-throne? Whilst living in a far-away country, you are not far from the heart. Seeing the child’s enthusiasm for service, BapDada is pleased and is giving you the number one. You are the jewel of BapDada’s eyes and are constantly in the flying stage. Therefore, BapDada is congratulating you.

BapDada meeting Auntie Betty:

As soon as you took your new birth, you received the blessing of being a serviceable child. You are an embodiment of experience. Even whilst living in Guyana, you are an embodiment of an instrument for world service and will always be this. You experience Baba’s co-operation and blessings through remembrance, do you not? Your remembrance continues to reach the Father. All your thoughts continue to be successful, do they not? With one elevated thought of yours, of the elevated soul, the whole family is attaining an elevated status. You are multimillion-times fortunate.

Avyakt BapDada’s sweet message to all the brothers and sisters who were present for the World Peace Conference (via Gulzar Dadi) :

As always, just as I reached the subtle region, BapDada was giving all the children love and remembrance with His sweet drishti. Today, I experienced from Baba’s drishti rays of intense peace, power, love and bliss emerging. It was such spiritual drishti that all these four qualities were being attained from it. It felt as though I was receiving so much. BapDada welcomed all of us children in this way and asked: Child, have you brought the remembrance of everyone? I said: I have brought remembrance, but I have also brought everyone’s invocation. Baba then said: All My lovely children who have come at this time have come to know everything, but a day will also come when they will come to meet Baba. BapDada constantly sees in the subtle region a scene of all the children. Having said this, Baba showed me a scene. Just as devotees in Bharat build images of a Shivalingam in temples, so too, I saw an image in the subtle region, but the shape of that image was round with many sparkling diamonds visible all around it. Four types of light were falling on the sparkling diamonds. They were white, green, light blue and gold. In a short space of time, that light changed into words. The word “Peace” was written in white light. The second was the word “Enthusiasm”, the third word was “Zeal” and the fourth word was “Service”. Baba said: All the children have served the world with a lot of zeal and enthusiasm and peaceful thoughts. Look how each soul is sparkling so much whilst in the gathering. Then Baba said: My children now know Me according to their capacity. Nevertheless, they are My children! Give all My sweetest children who have come love and remembrance. The sound that emerges from the lips of the children who have come here is that they have come home. BapDada smiles when He hears this sound of the children. Since you children have come home, have you come to claim your full right or just a little? Baba said: Having come to the shores of the Ocean, don’t go back having filled just an urn, but go back having become master oceans. Having come to the Mine don’t go back with two handfuls. Then BapDada gave three types of gifts to three types of children.

1. BapDada is giving the gift of a lotus flower (kamal) to His children who are holding a pen (kalam) (Media people). Tell My children who are seated on the lotus throne: Remain constantly detached from the tamopradhan vibrations of the world and also remain loving to the Supreme Father, the Supreme Soul. If you use your pen whilst stabilised in such a stage, your interaction will be successful and you will also be successful in doing something in the name of God.

2. All the VIP children who have come have not been given a throne, but the seat of a swan. Baba said: All of my VIP children who have come have power in their words. I am giving them a swan seat. Perform any task whilst sitting on this seat. By sitting on this seat your power of discrimination will become elevated so that whatever task you carry out will be filled with speciality. Just as you carry out a task whilst seated on a chair, in the same way, let your intellect be seated on the swan seat and then souls will continue to receive love and power, even whilst you carry out any worldly (lokik) task.

3. BapDada gave a very beautiful garland of flowers of light to all the surrendered serviceable children. On each light was written one or another divine virtue. Then Baba said: These children of Mine are those who have imbibed all the divine virtues and become embodiments of them. In return, BapDada is giving a gift of the garland of divine virtues to all the children who have carried out service, whilst having one strength and following the directions of One. Then, BapDada finally said: Share this elevated version of BapDada with all the children: Remain constantly happy, be one who has the fortune of happiness and continue to make everyone full of the blessings and treasures of happiness. Having heard such sweet versions and having exchanged love and remembrance, I returned to our corporeal world.

Blessing: May you be a knowledgeable and yogi soul and increase the treasures you have received from the Father by using them.
BapDada has made all the children full of all treasures, but the treasures of those who use every treasure at the right time constantly continue to increase. Such souls never say, “I didn’t want to do that, but it happened.” Knowledgeable and yogi souls who are full of all treasures first think and then act. They are touched according to the time and they then catch that and put it into a practical form. If you think about something even one second after you did it, you would not then be said to be a knowledgeable soul.
Slogan: Although there may be a difference in your nature and ideas, let there be no difference in your love.

 

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

 

BRAHMA KUMARIS MURLI 15 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 October 2017

October 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 14 October 2017 :- Click Here
15/10/17
मधुबन
“अव्यक्त-बापदाद”‘
ओम् शान्ति
15-02-83

विश्व शान्ति सम्मेलन के समाप्ति समारोह पर प्राण अव्यक्त बापदादा के मधुर अनमोल महावाक्य

आज बेहद का बाप सेवा के निमित्त बने हुए सेवाधारी बच्चों को देख रहे हैं। जिस भी बच्चे को देखें, हरेक, एक दो से श्रेष्ठ आत्मा है। तो बापदादा हरेक श्रेष्ठ आत्मा की, सेवाधारी आत्मा की विशेषता को देख रहे हैं। बापदादा को हर्ष है कि हरेक बच्चा इस विश्व परिवर्तन के कार्य में आधारमूर्त, उद्धारमूर्त है। सभी बच्चे बापदादा के कार्य में सदा सहयोगी आत्मा हैं। ऐसे सहयोगी, सहजयोगी श्रेष्ठ विशेष आत्माओं को वा सेवा के निमित्त बने हुए बच्चों को देख बापदादा अति स्नेह के सुनहरी पुष्पों से बच्चों की स्वागत और मुबारक की सेरीमनी मना रहे हैं। बापदादा हर बच्चे को मस्तकमणि, सन्तुष्ट मणि, हृदयमणि जैसे चमकते हुए स्वरूप में देखते हैं। बापदादा भी सदा एक गीत गाते रहते हैं, कौन सा गीत गाते हैं, जानते हो ना? यही गीत गाते – वाह मेरे बच्चे वाह! वाह मीठे बच्चे वाह! वाह प्यारे ते प्यारे बच्चे वाह! वाह श्रेष्ठ आत्मायें वाह! ऐसा ही निश्चय और नशा सदा रहता है ना। सारे कल्प में ऐसा भाग्य प्राप्त नहीं हो सकता जो भगवान बच्चों के गीत गाये। भक्त, भगवान के गीत बहुत गाते हैं। आप सबने भी बहुत गीत गाये हैं। लेकिन ऐसे कब सोचा कि कब भगवान भी हमारे गीत गायेंगे! जो सोचा नहीं था वह साकार रूप में देख रहे हो। विश्व शान्ति की कानफ्रेन्स कर ली। सभी बच्चों ने मुख द्वारा बहुत अच्छी अच्छी बातें सुनाई और मन द्वारा सर्व आत्माओं के प्रति शुभ भावना, श्रेष्ठ कामना के शुभ संकल्प के वायब्रेशन भी चारों ओर ज्ञान सूर्य बन फैलाए। लेकिन बाप दादा सभी भाषण करने वालों का सार सुना रहे हैं। आप लोगों ने तो चार दिन भाषण किये और बापदादा एक सेकण्ड का भाषण करते हैं। वह दो शब्द हैं ”रियलाइजेशन और सोल्युशन”। जो भी आप सबने बोला उसका सार रियलाइजेशन ही है। आत्मा को नहीं भी समझें लेकिन मानव के मूल्य को जानें तो भी शान्ति हो जाए। मानव विशेष शक्तिशाली स्वरूप है। अगर यह भी रियलाइज कर लें तो मानव के हिसाब से भी मानव धर्म ‘स्नेह’ है न कि लड़ाई झगड़ा। इससे आगे चलो – मानव जीवन का व मानवता का आधार आत्मा पर है। मैं कौन सी आत्मा हूँ, क्या हूँ, यह रियलाइज कर लें तो शान्ति तो स्वधर्म हो जायेगा। फिर आगे चलो – मै श्रेष्ठ आत्मा हूँ, सर्व शक्तिवान की सन्तान हूँ, यह रियलाइजेशन निर्बल से शक्ति स्वरूप बना देगी। शक्ति स्वरूप आत्मा वा मास्टर सर्वशक्तिवान आत्मा जो चाहे, जैसे चाहे वह प्रैक्टिकल में कर सकती है, इसलिए सुनाया कि सारे भाषणों का सार एक ही है ‘रियलाइजेशन’ तो बापदादा ने सभी भाषण सुने हैं ना।! बाप दादा सदा बच्चों के साथ हैं ही। अच्छा।

सभी सेवा में समर्पित बच्चों को, सभी ज़ोन से आये हुए बच्चों को, एक-एक यही समझे कि बापदादा मेरे को कह रहे हैं। एक एक से बात कर रहे हैं। सभी बच्चों ने जो प्रत्यक्ष सबूत दिखाया, उसके रिटर्न में बापदादा हरेक बच्चे को नाम सहित, रूप तो देख रहे हैं, नाम सहित मुबारक दे रहे हैं। अब तो जब आप समय परिवर्तन की सूचना दे रहे हो, तो बापदादा के मिलने का भी परिवर्तन होगा ना। आप सबका संकल्प है हमारा परिवार वृद्धि को पाए तो पुरानों को त्याग करना पड़ेगा। लेकिन यह त्याग ही भाग्य है। दूसरों को आगे बढ़ाना ही स्वंय को आगे बढ़ाना है। ऐसे नहीं समझना क्यों बाप दादा को विदेशी बच्चे प्रिय हैं, देश वाले नहीं हैं! वा कोई विशेष बच्चे प्रिय हैं। बापदादा के लिए तो हरेक बच्चा दिल का सहारा, मस्तक के ताज की मणि है इसलिए बापदादा सबसे पहले अपने राइट हैण्डस सहयोगी बच्चों को अति दिल व जान, सिक व प्रेम से याद दे रहे हैं। यह तो जरूर है दूर से आने वाले, सम्पर्क में आने वालों को सम्बन्ध में लाने के लिए आप सभी खुशी-खुशी उन्हीं को आगे बढ़ा रहे हो और बढ़ाते रहेंगे।

इस समय सब सेवा के प्रति आये हो इसलिए यह भी सेवा हो गई। हरेक ज़ोन का नाम लेवें क्या? अगर एक नाम लेंगे तो कोई रह जाए तो? इसलिए सभी ज़ोन समझें कि बापदादा मुझे पहला नम्बर रख रहे हैं। सर्व देश के वा विदेश के, अब तो सभी मधुबन निवासी हो, इसलिए सर्व विश्व शान्ति हाल में उपस्थित बच्चों को, ओम् शान्ति भवन निवासी बच्चों को बाप दादा, सदा याद में रहो, याद दिलाते रहो, हर कदम यादगार चरित्र बनाते चलते चलो। हर सेकेण्ड अपने प्रैक्टिकल लाइफ के आइने द्वारा सर्व आत्माओं को ‘स्व’ का, बाप का साक्षात्कार कराते चलो, ऐसे वरदानी महादानी सदा सम्पन्न बच्चों को बापदादा का याद प्यार ओर नमस्ते।

राबर्ट मूलर (असिस्टेन्ट पोट्री जनरल यू.एन.ओ) के प्रति महावाक्य

सेवा में श्रेष्ठ से श्रेष्ठ पार्टधारी आत्मा हो। जैसे मन में यह श्रेष्ठ संकल्प रखा कि जिस कार्य के लिए निमित्त बने हो वह करके ही दिखायेंगे। यह संकल्प बापदादा और सारे ब्राह्मण परिवार के सहयोग से साकार में आता ही रहेगा। संकल्प बहुत अच्छा है। प्लैन भी बहुत अच्छे-अच्छे सोचते हो। अभी इसी प्लैन के बीच में जब यह प्रिचुअल पावर एड हो जायेगी तो यह प्लैन साकार रूप लेते रहेंगे। बापदादा के पास बच्चों के सभी उमंग पहुंचते रहते हैं। सदा अटल रहना। हिम्मतवान बनकर आगे बढ़ते जाना। वह दिन भी इस ऑखों से दिखाई देगा कि विश्व शान्ति का झण्डा विश्व के चारों ओर लहरायेगा इसलिए आगे बढ़ते चलो। दुनिया वाले दिलशिकस्त बनायेंगे। आप मत बनाना। एक बल एक भरोसा, इसी निश्चय से चलते रहना। जिस समय कोई भी परिस्थिति आये तो बाप को साथी बना लेना, तो ऐसा अनुभव करेंगे कि मैं अकेला नहीं हूँ, मेरे साथ विशेष शक्ति है। स्वप्न पूरा हो जायेगा। जहाँ बाप है, वहाँ कितने भी चाहे तूफान हों, वह तोफा बन जायेंगे। ‘निश्चय बुद्धि विजयन्ति’ – यह टाइटल याद रखना कि मैं निश्चय बुद्धि विजयी रत्न हूँ। अच्छा

स्टीव नारायण (वाइस प्रेजिडेन्ट, गयाना) के प्रति महावाक्य:- अपने को बाप के दिलतख्तनशीन समीप रत्न अनुभव करते हो? दूरदेश में रहते भी दिल से दूर नहीं हो। बच्चों का सर्विस में उमंग उल्लास देख बापदादा हर्षित होते हैं और नम्बरवन देते हैं। सदा उड़ती कला में रहने वाले, बापदादा के नूरे रत्न हो इसलिए बापदादा मुबारक देते हैं।

(आन्टी बेटी से) – आपको नया जन्म लेते ही आशीर्वाद मिली हुई है कि आप सर्विसएबुल हो। अनुभवीमूर्त हो। ग्याना में रहते हुए भी विश्व सेवा अर्थ निमित्त मूर्त हो और रहेंगी। याद द्वारा बाप के सहयोग और वरदानों का अनुभव होता है ना! आपकी याद बाप को पहुंचती रहती है। सर्व संकल्प सिद्ध होते रहते हैं ना! आप एक श्रेष्ठ आत्मा के एक ही श्रेष्ठ संकल्प से सारा परिवार श्रेष्ठ पद को पा रहा है। पद्मापद्म भाग्यशाली हो।

”विश्व शान्ति सम्मेलन में सम्मिलित होने वाले भाई-बहनों के प्रति अव्यक्त बापदादा का मधुर सन्देश” – (गुल्जार दादी जी)

सदा की रीति प्रमाण आज जैसे ही मैं वतन में पहुँची तो बापदादा बहुत मीठी नज़र से दृष्टि द्वारा सर्व बच्चों को यादप्यार दे रहे थे। बाबा की दृष्टि से आज ऐसे अनुभव हो रहा था जैसे अति शान्ति, शक्ति, प्रेम और आनन्द की किरणें निकल रही हों। ऐसे रूहानी दृष्टि जिससे चार ही बातों की प्राप्ति हो रही थी। ऐसे लग रहा था जैसे हम बहुत कुछ पा रहे हैं। ऐसे बापदादा ने हम सभी बच्चों का स्वागत किया और बोले बच्ची, सभी की याद लाई हो? मैंने कहा – याद तो लाई हूँ लेकिन सबके आह्वान का संकल्प भी लाई हूँ, तो बाबा बोले इस समय तो मेरे इतने प्यारे बच्चे, जो भी आये हैं, जानने के लिए आये हैं, ऐसा भी दिन आयेगा जो फिर मिलने के लिए आयेंगे। बापदादा तो सभी बच्चों का दृश्य वतन में रहते ही भी सदा देखते रहते हैं। ऐसा कहते बाबा ने एक दृश्य दिखाया – जैसे भारत देश में भक्त लोग मन्दिरों में शिवलिंग की प्रतिमा बनाते हैं। ऐसे वतन में भी एक प्रतिमा दिखाई दी लेकिन उस प्रतिमा का गोल आकार था और उस गोल आकार में अनेक चमकते हुए हीरे चारों ओर नज़र आ रहे थे। उन चमकते हुए हीरों पर चार प्रकार की लाइट पड़ रही थी। एक रंग था सफेद, दूसरा हरा, तीसरा हल्का ब्ल्यु और चौथा गोल्ड। थोड़े समय में वह लाइट शब्दों में बदल गई। सफेद लाइट के अक्षरों से लिखा था ‘शान्ति’। दूसरे पर ‘उमंग’, तीसरे पर ‘उत्साह’ और चौथी लाइट से ‘सेवा’।

तो बाबा बोले सभी बच्चों ने बहुत ही उमंग-उत्साह और शान्ति के संकल्प द्वारा विश्व की सेवा की। एक-एक आत्मा संगठित रूप में देखो कितनी चमक रही है। फिर बाबा ने कहा मेरे बच्चे मुझे यथा शक्ति जान पाये हैं, फिर भी हैं तो मेरे ही बच्चे। मेरे सभी मीठे-मीठे बच्चों को यादप्यार देना। जो भी बच्चे आये हैं। सबके मुख से यह आवाज तो निकलनी है कि हम अपने घर में आये हैं – बापदादा बच्चों की यह आवाज़ सुनकर मुस्कराते हैं। जब बच्चे घर में आये हैं तो पूरा अधिकार लेने आये हैं, या थोड़ा सा? तो बाबा ने कहा – सागर के किनारे पर आकर गागर भरकर नहीं जाना लेकिन मास्टर सागर बनकर जाना। खान पर आकर दो मुट्ठी भर नहीं जाना। फिर बापदादा ने तीन प्रकार के बच्चों को तीन प्रकार की सौगात दी।

1. बाबा बोले – मेरे कलमधारी बच्चे (प्रेस वाले) जो आये हैं उन्हें बापदादा कमल पुष्प की सौगात देते हैं। मेरे कलमधारी बच्चों को कहना कि सदा कमल आसनधारी बन सारे विश्व के तमोगुणी वायब्रेशन से न्यारे और पिता परमात्मा के प्यारे बनें। अगर ऐसी स्थिति में स्थित हो कलम चलायेंगे तो आपका व्यवहार भी सिद्ध हो जायेगा और परमार्थ भी सिद्ध हो जायेगा।

2. वी.आई.पी. बच्चे जो भी आयें, उन्हों को बाबा ने सिंहासन नहीं लेकिन हंस-आसन दिया। बाबा बोले – यह जो भी मेरे वी.आई.पी. बच्चे आये हैं उन्हों के मुख में शक्ति है। इन्हें मैं हंस-आसन देता हूँ। इस आसन पर बैठकर फिर कोई कार्य करना। हंस-आसन पर बैठने से आपकी निर्णय शक्ति श्रेष्ठ होगी और जो भी कार्य करेंगे उसमें विशेषता होगी। जैसे कुर्सी पर बैठकर कार्य करते हो वैसे बुद्धि इस हंस-आसन पर रहे तो लौकिक कार्य से भी आत्माओं को स्नेह और शक्ति मिलती रहेगी।

3. सरेन्डर सेवाधारी बच्चों को बापदादा ने एक बहुत अच्छा लाइट के फूलों का बना हुआ हार दिया। हरेक लाइट पर कोई न कोई दिव्यगुण लिखा था। तो बाबा बोले, ये मेरे बच्चे सर्वगुण धारण करने वाले गुणमूर्त बच्चे हैं। सभी बच्चों ने एक बल एक मत होकर जो यह बेहद की सेवा की, उसके रिटर्न में बापदादा यह दिव्यगुणों की माला सभी बच्चों को सौगात रूप में देते हैं। और लास्ट में कहा सभी बच्चों को बापदादा के यही महावाक्य सुनाना कि सदा खुश रहना, खुशनसीब बनना और सर्व को खुशी के वरदानों से, खज़ानों से सम्पन्न बनाते रहना। ऐसे मधुर महावाक्य सुनते, यादप्यार देते और लेते मैं अपने साकार वतन में पहुंच गई।

वरदान:- वरदान: बाप द्वारा प्राप्त हुए सर्व खजानों को कार्य में लगाकर बढ़ाने वाले ज्ञानी-योगी तू आत्मा भव 
बापदादा ने बच्चों को सर्व खजानों से सम्पन्न बनाया है लेकिन जो समय पर हर खजाने को काम में लगाते हैं उनका खजाना सदा बढ़ता जाता है। वे कभी ऐसे नहीं कह सकते कि चाहते तो नहीं थे लेकिन हो गया। खजानों से सम्पन्न ज्ञानी-योगी तू आत्मायें पहले सोचती हैं फिर करती हैं। उन्हें समय प्रमाण टच होता है वे फिर कैच करके प्रैक्टिकल में लाती हैं। एक सेकण्ड भी करने के बाद सोचा तो ज्ञानी तू आत्मा नहीं कहेंगे।
स्लोगन:- स्वभाव और विचारों में अन्तर होते हुए भी स्नेह में अन्तर नहीं होना चाहिए।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 13 October 2017 :- Click Here

Font Resize