15 november ki murli

TODAY MURLI 15 NOVEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 15 November 2020

15/11/20
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
18/01/87

Signs of the karmateet stage.

Today, Avyakt BapDada has come to meet His children who have received the blessing, “May you have the avyakt stage”, the avyakt angels. It is only once throughout the whole cycle, at this confluence age, that these avyakt meetings take place. There will be meetings of deities in the golden age, but the avyakt meetings of angels only take place at this time. The incorporeal Father also celebrates a meeting through avyakt Father Brahma. The incorporeal One deeply loves this gathering of angels. This is why He leaves His land and comes to the subtle and corporeal worlds to celebrate a meeting with you. Because of the attraction of the love of the angelic children, the Father also has to change His form and dress and come into the children’s world. This confluence age is a very unique and lovely world of the Father and the children. Love is the greatest power that attracts; it binds the Supreme Soul, who is free from bondage and free from a body, with the bond of love. It makes the bodiless One become a bodily being with the loan of a body. This is the practical proof of the children’s love.

This is the day on which the rivers of love of many children from everywhere merge with the Ocean of Love. Children say: We have come to meet BapDada. Have the children come to meet the Father? Or, is it that the Father has come to meet you children? Or, have both come to Madhuban to meet one another? Children have come to bathe in the Ocean of Love, but the Father comes to bathe in thousands of Ganges. This is why the mela (meeting) of the Ocean and the Ganges is a unique one. You merge with the Ocean of Love and become like the Ocean. This day is called the day to become equal to the Father – the Day of Remembrance, that is, the Day of Power. Why? This day is the memorial of Father Brahma becoming complete, perfect and equal to the Father, a child and Father Brahma, because Brahma is a child and also a father. On this day,

 

  • Brahma gave the proof of being a worthy child in the form of love
  • he gave the proof of becoming equal
  • he gave the proof of being extremely loving and totally detached
  • he gave the proof of being karmateet, equal to the Father, that is, he gave the proof of being free from any bondage of karma, like the Father
  • he gave the proof of being free from any karmic accounts of actions performed through the whole cycle

 

Apart from the bond of love for service, there are no other bonds. In doing service too, he is not a soul who is bound by any bondage of service, because some do service whilst free from bondage whereas others do service whilst tied in bondages of service. Father Brahma was also a server. However, royal forms of desire in service also tie some in the bondage of karmic accounts of service but true servers are free from those karmic accounts. This is called the karmateet stage. Just as there is the bondage of the body and the bondage of relationships of the body, so too, selfish motives in doing service are also a bondage and they create an obstacle to your becoming karmateet. To become karmateet means to become free from that royal karmic account.

The majority who have come are servers and instruments for Gita Pathshalas. So, service means to liberate others too. Whilst liberating others, you don’t tie yourself in any bondage, do you? Instead of becoming a conqueror of attachment, having renounced all attachments to your physical children, etc., you don’t have attachment to your students, do you? While saying, “This one is very good; he is very good” and considering someone to be good in that way, you don’t tie yourself in a bondage of desire of that one belonging to you, do you? You don’t like golden chains, do you? So, celebrate today as the day to become free from any limited consciousness of “mine”, that is, as the avyakt day to become karmateet. This is called giving the proof of love. Everyone’s aim to become karmateet is good. Now, check to what extent you have become free from any bondage of karma. Firstly, check whether you are free from feeling any selfish motives in both the lokik and alokik, in actions and in relationships. Secondly, have you become free from the karmic accounts of the actions of your past births and free from any influence of a wasteful nature and sanskars due to the weakness in effort at the present time? If any weak nature or sanskars or nature and sanskars of the past influence you at any time, then you are tied in bondage, not free from bondage. Do not think: I don’t want this to happen, but my nature and sanskars make me do it. This too is not a sign of one who is free from bondage, but of one who is tied in bondage. Another thing: When your original stage, your elevated stage, fluctuates due to any service situation, any gathering or the elements, that too is not the stage of being free from bondage. Become free from that bondage too. Thirdly, also become free from any upheaval of your elevated stage that may come through any type of illness of your last old body in the old world. It is one thing for the illness to come but it is another thing for that illness to make you fluctuate. It is destined for it to come, but for your stage to fluctuate is a sign of being tied in bondage. Become free from having thoughts about any illness of the body. Instead, have thoughts of your original self, thoughts of knowledge and of being one with pure and positive thoughts for others, because thinking too much about matter changes into a form of worry. So, to become free from that is called the karmateet stage. To renounce all of those bondages is a sign of the karmateet stage. Father Brahma became free from all of these types of bondage and attained the karmateet stage. So, today is the day to become karmateet, like Father Brahma. Did you understand the significance of this day? Achcha.

Today’s gathering is especially a gathering of those who are special servers, that is, of those who are becoming pure and charitable souls. To open a Gita Pathshala means to become a pure and charitable soul. The greatest charity of all is the charity of liberating every soul from their sins of many births for all time. The name is very good: “Gita Pathshala”. So, those from a Gita Pathshala means those who study the lessons of the Gita and also teach others. The first lesson of the knowledge of the Gita is to become a bodiless soul, and the last lesson is to be a conqueror of attachment and an embodiment of remembrance. So, the first lesson is the method to use and the last lesson is the result achieved through learning that lesson. So, do you, who are from Gita Pathshalas, learn this lesson at every moment or do you just read the murli? Because the way to have a true Gita Pathshala is first of all for yourself to study, that is, to become that and then to become an instrument and teach others. So, are all of you in the Gita Pathshalas doing service in this way? Because all of you are samples of this Godly study in front of the world. A sample is important. A sample gives many souls inspiration to become like that. So those from the Gita Pathshalas have a big responsibility. If you show the slightest weakness in becoming samples, then, instead of creating the fortune of many souls, you will become instruments to deprive many souls of creating their fortune, because those who see and listen to you instrument souls do so in the corporeal form. The Father is incognito, is He not? Therefore, demonstrate this by performing such elevated actions that, when they see your elevated actions, many souls will perform elevated actions and become able to elevate their line of fortune. So, firstly, always consider yourselves to be samples. Secondly, always remember your symbol. Do you know what the symbol of those in a Gita Pathshala is? A lotus flower. BapDada has told you to become a lotus flower and to put this into practice. The way to become a lotus is to put it into practice. If you don’t put it into practice, you cannot become a lotus. Therefore, always keep in your intellect, “I am a sample“. Also keep the symbol of the lotus flower in your intellect. No matter how much service increases, remain detached and loving whilst doing service. Do not just be loving, but be detached and loving. This is because to have love for doing service is a good thing, but you have to make sure that that love does not change into attachment. This is called being loving while detached. You became instruments for service and that is very good. You at least received the title of being pure and charitable souls. Therefore, because you carried out a charitable act you were given a special invitation. Now, continue to make progress in future with the stage of success for which Baba taught you a lesson. Do you understand what you have to do in the future? Achcha.

Today, all of you are especially waiting for one thing, and what is that? (That Baba will tell us the result.) Will you give the results or will the Father give the results? What did BapDada say? Will He take the results or will He give the results? According to the dramaplan, whatever happened and however it happened, it would be said to have been good. All of you kept a good aim and you showed the qualifications through your actions according to your own capacity. You adopted the blessing of, “over a long period of time”, numberwise, and the blessings that you attained, even now, make you become images that grant blessings and you continue to be bestowers of blessings, like the Father. What does BapDada want now? You have received blessings, and now, this year, whilst especially practising being free from bondage over a long period of time, that is, whilst having a karmateet stage like the Father’s, give the world an experience of being detached and loving. Now change the method of experiencing this only sometimes and reveal the experience over a long period of time – of being unshakeable, immovable and free from obstacles, bondages, sinful thoughts and sinful actions, that is, of being incorporeal, viceless and egoless. Bring this stage in front of the world in a practical way. This is known as becoming equal to the Father. Do you understand?

In the results, how many of you were content with yourselves? Firstly, there is contentment with the self, secondly, there is the contentment of the Brahmin family and thirdly, there is the contentment of the Father. In the results of all three, you now have to claim more marks. So, become content and make others content. Become the Father’s jewels of contentment and always continue to sparkle. BapDada has regard for you children, and this is why He is showing you the incognito records. You are the ones who are going to become this in the future and this is why the Father sees your constantly perfect stage. Achcha.

All of you are jewels of contentment, are you not? Seeing the expansion, be happy! All of you are waiting for there to be queues up from Abu Road. Now, just the hall has become full, but what will you do then? Will you then sleep or will you have constant yoga all night? This will also happen. Therefore, be happy with just a little. Instead of three feet of land, if you receive even one foot of land, be happy with that. Do not think: Before, it used to be like this. Celebrate the happiness of the family growing. The sky and the earth are never going to run out of space. There are many mountains. When you think, “There should be this, I should get this…” you then make it a big thing. Then the Dadis also have to think about what to do and how to do it. Such a day will come when you will sleep during the day in the sunshine and stay awake at night. Those people light a fire and sit around it, keeping themselves warm and you will all light fires of yoga and sit there. Do you like this? Or, do you want beds? Do you want chairs to sit on? Make the support of the mountain your chair. Whilst you have the facilities, take comfort from them, and if you don’t have them, make the mountain your chair. You only need to rest your back, nothing else. If 5000 people come, then, of course, the chairs will have to be taken away. Then, when there is a queue, you will even have to renounce your beds. Be everready. If you are given a bed, “Ha ji”, and if you are asked to sleep on the floor, then too, “Ha ji”. You were made to practise this a lot in the beginning. For a fortnight, the dispensary used to be closed. Even asthma patients used to have millet chapattis and lassi (yoghurt and water mix). However, they didn’t fall ill; everyone became healthy. So, this was demonstrated by their practice at the beginning, and it will also happen at the end. Otherwise, just think about it; if you asked an asthma patient to drink lassi, that patient would be afraid to drink it. However, when the medicine of blessings is mixed with it, it becomes a form of enjoyment. It doesn’t feel like a test-paper; it doesn’t feel difficult. At that time, it didn’t feel like renunciation, but an excursion. So, are all of you ready? Or, will the teachers give a list to those who are to provide all the facilities? This is why not many are called here. When the time comes, you will experience being the form of success of your spiritual endeavour, being beyond all of these facilities. You are also the spiritual military, are you not? You also have to play the part of that military. This is now a loving family; it is a home. You do experience this, do you not? However, when the time comes, you will have to be the spiritual army with that love and overcome whatever situations come. This too is a speciality of the military. Achcha.

Gujarat has the special blessing of remaining everready. You don’t make excuses: What can we do? How can we do this? They didn’t have a reservation, but they just arrived here. There is benefit in being close. Gujarat has the special blessing of being obedient because you also say, “Ha ji” to doing service. All the service that requires hard work is given to Gujarat. Who does the service of making the chapattis? Who does the service of giving accommodation and of running around? It is Gujarat. BapDada watches everything. It isn’t that BapDada is not aware of everything. Those who make effort especially receive love from the Beloved. You have the fortune of being close and you have maintained a good method of increasing your fortune. Not everyone knows how to increase their fortune. Some receive fortune, but they only keep that much, they do not know how to increase it. However, those from Gujarat have fortune and they also know how to increase it. This is how you are increasing your fortune. BapDada is pleased to see this. To receive special blessings from the Father is also a sign of fortune. Do you understand?

To all the loving children who have arrived here from everywhere, BapDada is giving all the loving children everywhere, from this land and abroad, the blessing, “May you remain eternally loving”, in return for your love. Just as you have come running here from so far away out of love, just as you have come running physically and come close and personally in front of Baba, similarly, in your efforts too, become equal to the Father with your flying stage, that is, always remain close to the Father. Just as you have come here personally in front of the Father, in the same way, always remain close to the Father with your flying stage. Do you understand what you have to do? This love of your hearts reaches the Father, the Comforter of Hearts, even before you reach here. Whether personally in front of Baba or physically far away on this day, whether in this land or abroad, even while being far away, all the children are the closest of all and seated on the heart-throne. So, the closest place of all is the heart. So, you are not sitting abroad or somewhere else in this land, but you are sitting on the heart-throne. So, you are close, are you not? All the children’s love, remembrance and complaints, and their sweet heart-to-heart conversations and gifts have reached the Father. BapDada is giving all the loving children the special blessing: “May you always remain free from labour by being lost in love.” So, all of you received the return, did you not?

To all the loving children, to all the souls who always remain close, to all the special souls who remain free from any bondage of karma and who experience the karmateet stage over a long period of time, to all the jewels of contentment seated on the heart throne, together with the blessing of “the avyakt stage”, love, remembrance, good night and good morning from BapDada.

Blessing: May you become complete and perfect, and equal to the Father by finishing all the old accounts and by putting on the new clothes of new sanskars.
On Deepawali, people wear new clothes. In the same way, in this new birth of dying alive, celebrate the New Year by wearing the clothes of new sanskars. Whatever old accounts of your weaknesses, defects, lack of strength and sensitivity that still remain, finish all of those and celebrate true Deepawali. In this new birth, imbibe new sanskars and you will become equal to the Father.
Slogan: Accumulate the treasures of pure thoughts and your time will not be wasted in waste thoughts.

 

*** Om Shanti ***

Notice: Today is 3rd Sunday of the month, and all Raj yogi tapaswi brothers and sisters will be practising meditation from 6.30 to 7.30 pm. With the elevated attitude of pure feelings, become a great donor with your mind and do the service of giving everyone the blessing of being fearless.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 15 NOVEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 November 2020

Murli Pdf for Print : – 

15-11-20
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 18-01-87 मधुबन

कर्मातीत स्थिति की निशानियां

आज अव्यक्त बापदादा अपने ‘अव्यक्त स्थिति भव’ के वरदानी बच्चों वा अव्यक्ति फरिश्तों से मिलने आये हैं। यह अव्यक्त मिलन इस सारे कल्प में अब एक ही बार संगम पर होता है। सतयुग में भी देव मिलन होगा लेकिन फरिश्तों का मिलन, अव्यक्त मिलन इस समय ही होता है। निराकार बाप भी अव्यक्त ब्रह्मा बाप के द्वारा मिलन मनाते हैं। निराकार को भी यह फरिश्तों की महफिल अति प्रिय लगती है, इसलिए अपना धाम छोड़ आकारी वा साकारी दुनिया में मिलन मनाने आये हैं। फरिश्ते बच्चों के स्नेह की आकर्षण से बाप को भी रूप बदल, वेष बदल बच्चों के संसार में आना ही पड़ता है। यह संगमयुग बाप और बच्चों का अति प्यारा और न्यारा संसार है। स्नेह सबसे बड़ी आकर्षित करने की शक्ति है जो परम-आत्मा, बन्धनमुक्त को भी, शरीर से मुक्त को भी स्नेह के बन्धन में बांध लेती है, अशरीरी को भी लोन के शरीरधारी बना देती है। यही है बच्चों के स्नेह का प्रत्यक्ष प्रमाण।

आज का दिन अनेक चारों ओर के बच्चों के स्नेह की धारायें, स्नेह के सागर में समाने का दिन है। बच्चे कहते हैं – ‘हम बापदादा से मिलने आये हैं’। बच्चे मिलने आये हैं? वा बच्चों से बाप मिलने आये हैं? या दोनों ही मधुबन में मिलने आये हैं? बच्चे स्नेह के सागर में नहाने आये हैं लेकिन बाप हजारों गंगाओं में नहाने आते हैं इसलिए गंगा-सागर का मेला विचित्र मेला है। स्नेह के सागर में समाए सागर समान बन जाते हैं। आज के दिन को बाप समान बनने का स्मृति अर्थात् समर्थी-दिवस कहते हैं। क्यों? आज का दिन ब्रह्मा बाप के सम्पन्न और सम्पूर्ण बाप समान बनने का यादगार दिवस है। ब्रह्मा बच्चा सो बाप, क्योंकि ब्रह्मा बच्चा भी है, बाप भी है। आज के दिन ब्रह्मा ने बच्चे के रूप में सपूत बच्चा बनने का सबूत दिया स्नेह के स्वरूप का, समान बनने का सबूत दिया; अति प्यारे और अति न्यारेपन का सबूत दिया; बाप समान कर्मातीत अर्थात् कर्म के बन्धन से मुक्त, न्यारा बनने का सबूत दिया; सारे कल्प के कर्मों के हिसाब-किताब से मुक्त होने का सबूत दिया। सिवाए सेवा के स्नेह के और कोई बन्धन नहीं। सेवा में भी सेवा के बन्धन में बंधने वाले सेवाधारी नहीं क्योंकि सेवा में कोई बन्धनमुक्त बन सेवा करते और कोई बन्धनयुक्त बन सेवा करते। सेवाधारी ब्रह्मा बाप भी है। लेकिन सेवा द्वारा हद की रॉयल इच्छायें सेवा में भी हिसाब-किताब के बन्धन में बांधती है। लेकिन सच्चे सेवाधारी इस हिसाब-किताब से भी मुक्त हैं। इसी को ही कर्मातीत स्थिति कहा जाता है। जैसे देह का बन्धन, देह के सम्बन्ध का बन्धन, ऐसे सेवा में स्वार्थ – यह भी बन्धन कर्मातीत बनने में विघ्न डालता है। कर्मातीत बनना अर्थात् इस रॉयल हिसाब-किताब से भी मुक्त।

मैजारिटी निमित्त गीता-पाठशालाओं के सेवाधारी आये हैं ना। तो सेवा अर्थात् औरों को भी मुक्त बनाना। औरों को मुक्त बनाते स्वयं को बन्धन में बांध तो नहीं देते? नष्टोमोहा बनने के बजाए, लौकिक बच्चों आदि सबसे मोह त्याग कर स्टूडेन्ट से मोह तो नहीं करते? यह बहुत अच्छा है, बहुत अच्छा है, अच्छा-अच्छा समझते मेरेपन की इच्छा के बन्धन में तो नहीं बंध जाते? सोने की जंजीरें तो अच्छी नहीं लगती हैं ना? तो आज का दिन हद के मेरे-मेरे से मुक्त होने का अर्थात् कर्मातीत होने का अव्यक्ति दिवस मनाओ। इसी को ही स्नेह का सबूत कहा जाता है। कर्मातीत बनना – यह लक्ष्य तो सबका अच्छा है। अब चेक करो – कहाँ तक कर्मों के बन्धन से न्यारे बने हो? पहली बात – लौकिक और अलौकिक, कर्म और सम्बन्ध दोनों में स्वार्थ भाव से मुक्त। दूसरी बात – पिछले जन्मों के कर्मों के हिसाब-किताब वा वर्तमान पुरूषार्थ के कमजोरी के कारण किसी भी व्यर्थ स्वभाव-संस्कार के वश होने से मुक्त बने हैं? कभी भी कोई कमजोर स्वभाव-संस्कार वा पिछला संस्कार-स्वभाव वशीभूत बनाता है तो बन्धन-युक्त हैं, बन्धनमुक्त नहीं। ऐसे नहीं सोचना कि चाहते नहीं हैं लेकिन स्वभाव या संस्कार करा देते हैं। यह भी निशानी बन्धनमुक्त की नहीं लेकिन बन्धनयुक्त की है। और बात – कोई भी सेवा की, संगठन की, प्रकृति की परिस्थिति स्वस्थिति को वा श्रेष्ठ स्थिति को डगमग करती है – यह भी बन्धनमुक्त स्थिति नहीं है। इस बन्धन से भी मुक्त। और तीसरी बात – पुरानी दुनिया में पुराने अन्तिम शरीर में किसी भी प्रकार की व्याधि अपनी श्रेष्ठ स्थिति को हलचल में लाये – इससे भी मुक्त। एक है व्याधि आना, एक है व्याधि हिलाना। तो आना – यह भावी है लेकिन स्थिति हिल जाना – यह बन्धनयुक्त की निशानी है। स्वचिन्तन, ज्ञान चिन्तन, शुभचिन्तक बनने का चिन्तन बदल शरीर की व्याधि का चिन्तन चलना – इससे मुक्त क्योंकि ज्यादा प्रकृति का चिंतन चिंता के रूप में बदल जाता है। तो इससे मुक्त होना – इसी को ही कर्मातीत स्थिति कहा जाता है। इन सभी बन्धनों को छोड़ना, यही कर्मातीत स्थिति की निशानी है। ब्रह्मा बाप ने इन सभी बन्धनों से मुक्त हो कर्मातीत स्थिति को प्राप्त किया। तो आज का दिवस ब्रह्मा बाप समान कर्मातीत बनने का दिवस है। आज के दिवस का महत्व समझा? अच्छा।

आज की सभा विशेष सेवाधारी अर्थात् पुण्य आत्मा बनने वालों की सभा है। गीता पाठशाला खोलना अर्थात् पुण्य आत्मा बनना। सबसे बड़े ते बड़ा पुण्य हर आत्मा को सदा के लिए अर्थात् अनेक जन्मों के लिए पापों से मुक्त करना – यही पुण्य है। नाम बहुत अच्छा है – ‘गीता पाठशाला’। तो गीता पाठशाला वाले अर्थात् सदा स्वयं गीता का पाठ पढ़ने वाले और पढ़ाने वाले। गीता-ज्ञान का पहला पाठ – अशरीरी आत्मा बनो और अन्तिम पाठ – नष्टो-मोहा, स्मृतिस्वरूप बनो। तो पहला पाठ है विधि और अन्तिम पाठ है विधि से सिद्धि। तो गीता-पाठशाला वाले हर समय यह पाठ पढ़ते हैं कि सिर्फ मुरली सुनाते हैं? क्योंकि सच्ची गीता-पाठशाला की विधि यह है – पहले स्वयं पढ़ना अर्थात् बनना फिर औरों को निमित्त बन पढ़ाना। तो सभी गीता-पाठशाला वाले इस विधि से सेवा करते हो? क्योंकि आप सभी इस विश्व के आगे परमात्म-पढ़ाई का सैम्पल हो। तो सैम्पल का महत्व होता है। सैम्पल अनेक आत्माओं को ऐसा बनने की प्रेरणा देता है। तो गीता-पाठशाला वालों के ऊपर बड़ी जिम्मेवारी है। अगर जरा भी सैम्पल बनने में कमी दिखाई तो अनेक आत्माओं को भाग्य बनाने के बजाए, भाग्य बनाने से वंचित करने के निमित्त भी बन जायेंगे क्योंकि देखने वाले, सुनने वाले साकार रूप में आप निमित्त आत्माओं को देखते हैं। बाप तो गुप्त हैं ना इसलिए ऐसा श्रेष्ठ कर्म करके दिखाओ जो आपके श्रेष्ठ कर्मों को देख, अनेक आत्मायें श्रेष्ठ कर्म करके अपने भाग्य की रेखा श्रेष्ठ बना सकें। तो एक तो अपने को सदा सैम्पल समझना और दूसरा, सदा अपना सिम्बल याद रखना। गीता-पाठशाला वालों का सिम्बल कौनसा है, जानते हो? कमल पुष्प। बापदादा ने सुनाया है कि कमल बनो और अमल करो। कमल बनने का साधन ही है अमल करना। अगर अमल नहीं करते तो कमल नहीं बन सकते इसलिए ‘सैम्पल हैं’ और ‘कमलपुष्प’ का सिम्बल सदा बुद्धि में रखो। सेवा कितनी भी वृद्धि को प्राप्त हो लेकिन सेवा करते न्यारे बन प्यारे बनना। सिर्फ प्यारे नहीं बनना, न्यारे बन प्यारे बनना क्योंकि सेवा से प्यार अच्छी बात है लेकिन प्यार लगाव के रूप में बदल नहीं जाये। इसको कहते हैं न्यारे बन प्यारा बनना। सेवा के निमित्त बने, यह तो बहुत अच्छा किया। पुण्य आत्मा का टाईटल तो मिल ही गया इसलिए देखो, खास निमंत्रण दिया है, क्योंकि पुण्य का काम किया है। अब आगे जो सिद्धि का पाठ पढ़ाया, तो सिद्धि की स्थिति से वृद्धि को प्राप्त करते रहना। समझा, आगे क्या करना है? अच्छा।

सभी विशेष एक बात की इन्तजार में हैं, वह कौनसी? (रिजल्ट सुनायें) रिजल्ट आप सुनायेंगे या बाप सुनायेंगे? बापदादा ने क्या कहा था – रिजल्ट लेंगे या देंगे? ड्रामा प्लैन अनुसार जो चला, जैसे चला उसको अच्छा ही कहेंगे। लक्ष्य सबने अच्छा रखा, लक्षण यथा शक्ति कर्म में दिखाया। बहुतकाल का वरदान नम्बरवार धारण किया भी और अभी भी जो वरदान प्राप्त किया, वह वरदानीमूर्त बन बाप समान वरदानदाता बनते रहना। अभी बापदादा क्या चाहते हैं? वरदान तो मिला, अब इस वर्ष बहुतकाल बन्धन-मुक्त अर्थात् बाप समान कर्मातीत स्थिति का विशेष अभ्यास करते दुनिया को न्यारे और प्यारे-पन का अनुभव कराओ। कभी-कभी अनुभव करना – अभी इस विधि को बदल बहुतकाल के अनुभूतियों का प्रत्यक्ष बहुतकाल अचल, अडोल, निर्विघ्न, निर्बन्धन, निर्विकल्प, निर्विकर्म अर्थात् निराकारी, निर्विकारी, निरंहकारी – इसी स्थिति को दुनिया के आगे प्रत्यक्ष रूप में लाओ। इसको कहते हैं बाप समान बनना। समझा?

रिजल्ट में पहले स्वयं से स्वयं संतुष्ट, वह कितने रहे? क्योंकि एक है स्वयं की सन्तुष्टता, दूसरी है ब्राह्मण परिवार की सन्तुष्टता, तीसरी है बाप की सन्तुष्टता। तीनों की रिजल्ट में अभी और मार्क्स लेनी हैं। तो सन्तुष्ट बनो, सन्तुष्ट करो। बाप की सन्तुष्टमणि बन सदा चमकते रहो। बापदादा बच्चों का रिगार्ड रखते हैं, इसलिए गुप्त रिकार्ड बताते हैं। होवनहार हैं, इसीलिए बाप सदा सम्पन्नता की स्टेज देखते हैं। अच्छा।

सभी सन्तुष्टमणियां हो ना? वृद्धि को देख करके खुश रहो। आप सब तो इन्तजार में हो कि आबू रोड तक क्यू लगे। तो अभी तो सिर्फ हाल भरा है, फिर क्या करेंगे? फिर सोयेंगे या अखण्ड योग करेंगे? यह भी होना है इसलिए थोड़े में ही राज़ी रहो। तीन पैर के बजाए एक पैर पृथ्वी भी मिले, तो भी राजी रहो। पहले ऐसे होता था – यह नहीं सोचो। परिवार के वृद्धि की खुशी मनाओ। आकाश और पृथ्वी तो खुटने वाले नहीं हैं ना। पहाड़ तो बहुत है। यह भी होना चाहिए, यह भी मिलना चाहिए – यह बड़ी बात बना देते हो। यह दादियां भी सोच में पड़ जाती हैं – क्या करें, कैसे करें? ऐसे भी दिन आयेंगे जो दिन में धूप में सो जायेंगे, रात मे जागेंगे। वो लोग आग जलाकर आसपास बैठ जाते हैं गर्म हो करके, आप योग की अग्नि जलाकर के बैठ जायेंगे। पसन्द है ना या खटिया चाहिए? बैठने के लिए कुर्सी चाहिए? यह पहाड़ की पीठ कुर्सी बना देना। जब तक साधन हैं तो सुख लो, नहीं हैं तो पहाड़ी को कुर्सी बनाना। पीठ को आराम चाहिए ना, और तो कुछ नहीं। पांच हजार आयेंगे तो कुर्सियां तो उठानी पड़ेगी ना। और जब क्यू लगेगी तो खटिया भी छोड़नी पड़ेगी। एवररेडी रहना। अगर खटिया मिले तो भी ‘हाँ-जी’, धरनी मिले तो भी ‘हाँ-जी’। ऐसे शुरू में बहुत अभ्यास कराये हैं। 15-15 दिन तक दवाखाना बन्द रहता। दमा के पेशेन्ट भी ढोढा (बाजरे की रोटी) और लस्सी पीते थे। लेकिन बीमार नहीं हुए, सब तन्दरूस्त हो गये। तो यह शुरू में अभ्यास करके दिखाया है, तो अन्त में भी होगा ना। नहीं तो, सोचो, दमा का पेशेन्ट और उसको लस्सी दो तो पहले ही घबरा जायेगा। लेकिन दुआ की दवा साथ में होती है, इसलिए मनोरंजन हो जाता है। पेपर नहीं लगता है। मुश्किल नहीं लगता। त्याग नहीं, एक्सकर्शन हो जाती है। तो सभी तैयार हो ना या प्रबन्ध करने वाले के पास टीचर्स लिस्ट ले जायेंगी? इसीलिए नहीं बुलाते हैं ना। समय आने पर यह सब साधन से भी परे साधना के सिद्धि रूप में अनुभव करेंगे। रूहानी मिलेट्री (सेना) भी हो ना। मिलेट्री का पार्ट भी तो बजाना है। अभी तो स्नेही परिवार है, घर है – यह भी अनुभव कर रहे हो। लेकिन समय पर रूहानी मिलेट्री बन जो समय आया उसको उसी स्नेह से पार करना – यह भी मिलेट्री की विशेषता है। अच्छा।

गुजरात को यह विशेष वरदान है जो एवररेडी रहते हैं। बहाना नहीं देते हैं – क्या करें, कैसे आयें, रिजर्वेशन नहीं मिलती – पहुँच जाते हैं। नजदीक का फायदा है। गुजरात को आज्ञाकारी बनने का विशेष आशीर्वाद है क्योंकि सेवा में भी ‘हाँ-जी’ करते हैं ना। मेहनत की सेवा सदा गुजरात को देते हैं ना। रोटी की सेवा कौन करता है? स्थान देने की, भागदौड़ करने की सेवा गुजरात करता है। बापदादा सब देखता है। ऐसे नहीं बापदादा को पता नहीं पड़ता। मेहनत करने वालों को विशेष महबूब की मुहब्बत प्राप्त होती है। नजदीक का भाग्य है और भाग्य को आगे बढ़ाने का तरीका अच्छा रखते हैं। भाग्य को बढ़ाना सबको नहीं आता है। कोई को भाग्य प्राप्त होता है लेकिन उतने तक ही रहता है, बढ़ाना नहीं आता। लेकिन गुजरात को भाग्य है और बढ़ाना भी आता है इसलिए अपना भाग्य बढ़ा रहे हो – यह देख बापदादा भी खुश है। तो बाप की विशेष आशीर्वाद – यह भी एक भाग्य की निशानी है। समझा?

जो भी चारों ओर के स्नेही बच्चे पहुँचे हैं, बापदादा भी उन सभी देश, विदेश दोनों के स्नेही बच्चों को स्नेह का रिटर्न ‘सदा अविनाशी स्नेही भव’ का वरदान दे रहे हैं। स्नेह में जैसे दूर-दूर से दौड़कर पहुँचे हो, ऐसे ही जैसे स्थूल में दौड़ लगाई, समीप पहुँचे, सम्मुख पहुँचे, ऐसे पुरूषार्थ में भी विशेष उड़ती कला द्वारा बाप समान बनना अर्थात् सदा बाप के समीप रहना। जैसे यहाँ सामने पहुँचे हो, वैसे सदा उड़ती कला द्वारा बाप के समीप ही रहना। समझा, क्या करना है? यह स्नेह, दिल का स्नेह दिलाराम बाप के पास आपके पहुँचने के पहले ही पहुँच जाता है। चाहे सम्मुख हो, चाहे आज के दिन देश-विदेश में शरीर से दूर हैं लेकिन दूर होते हुए भी सभी बच्चे समीप से समीप दिलतख्तनशीन हैं। तो सबसे समीप का स्थान है दिल। तो विदेश वा देश में नहीं बैठे हैं लेकिन दिलतख्त पर बैठे हैं। तो समीप हो गये ना। सभी बच्चों की यादप्यार, उल्हनें, मीठी-मीठी रूहरिहानें, सौगातें – सब बाप के पास पहुँच गई। बापदादा भी स्नेही बच्चों को ‘सदा मेहनत से मुक्त हो मुहब्बत में मग्न रहो’ – यह वरदान दे रहे हैं। तो सभी को रिटर्न मिल गया ना। अच्छा।

सर्व स्नेही आत्माओं को, सदा समीप रहने वाली आत्माओं को, सदा बन्धनमुक्त, कर्मातीत स्थिति में बहुतकाल अनुभव करने वाली विशेष आत्माओं को, सर्व दिल-तख्तनशीन सन्तुष्टमणियों को बापदादा का ‘अव्यक्ति स्थिति भव’ के वरदान साथ यादप्यार और गुडनाइट और गुडमार्निंग।

वरदान:- पुराने खाते समाप्त कर, नये संस्कारों रूपी नये वस्त्र धारण करने वाले बाप समान सम्पन्न भव
जैसे दीपावली पर नये वस्त्र धारण करते हैं, ऐसे आप बच्चे इस मरजीवा नये जन्म में, नये संस्कार रूपी वस्त्र धारण कर नया वर्ष मनाओ। अपनी कमजोरी, कमियां, निर्बलता, कोमलता आदि के जो भी पुराने खाते रहे हुए हैं, उन्हें समाप्त कर सच्ची दीपावली मनाओ। इस नये जन्म में नये संस्कार धारण कर लो तो बाप समान सम्पन्न बन जायेंगे।
स्लोगन:- शुद्ध संकल्प का खजाना जमा हो तो व्यर्थ संकल्पों में समय नहीं जायेगा।

 

सूचनाः- आज मास का तीसरा रविवार है, सभी राजयोगी तपस्वी भाई बहिनें सायं 6.30 से 7.30 बजे तक, विशेष योग अभ्यास के समय अपनी शुभ भावनाओं की श्रेष्ठ वृत्ति द्वारा मन्सा महादानी बन सबको निर्भयता का वरदान देने की सेवा करें।

BRAHMA KUMARIS MURLI 15 NOVEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 November 2018

To Read Murli 14 November 2018 :- Click Here
15-11-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अपनी बुद्धि वा विचारों को इतना शुद्ध, स्वच्छ बनाओ जो श्रीमत को यथार्थ रीति धारण कर बाप का नाम बाला कर सको”
प्रश्नः- बच्चों की कौन-सी अवस्था ही बाप का शो करेगी?
उत्तर:- जब बच्चों की निरन्तर हर्षितमुख, अचल-अडोल, स्थिर और मस्त अवस्था बनें तब बाप का शो कर सके। ऐसी एकरस अवस्था वाले होशियार बच्चे ही यथार्थ रीति सबको बाप का परिचय दे सकते हैं।
गीत:- मरना तेरी गली में……….

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। कहते हैं आये हैं तेरे दर पे जीते जी मरने के लिए। किसके दर पर? फिर भी यही बात निकलती कि अगर गीता का भगवान् कृष्ण कहें तो यह सब बातें हो न सकें। न कृष्ण यहाँ हो सके। वह तो है सतयुग का प्रिन्स। गीता कोई कृष्ण ने नहीं सुनाई, गीता तो परमपिता ने सुनाई। सारा मदार एक बात पर है। भक्ति में तुम इतनी मेहनत करते आये हो वह तो दरकार नहीं। यह तो सेकेण्ड की बात है। सिर्फ यह एक बात ही सिद्ध करने के लिए भी बाप को कितनी मेहनत करनी पड़ती है। कितनी नॉलेज देनी पड़ती है। प्राचीन नॉलेज जो भगवान् ने दी है वही नॉलेज है, सारी बात गीता पर है। परमपिता परमात्मा ने ही आकर देवी-देवता धर्म की स्थापना के लिए सहज राजयोग और ज्ञान सिखलाया है, जो अब प्राय:लोप है। मनुष्य तो समझते हैं कृष्ण कभी फिर आकर गीता सुनायेगा। परन्तु अब तुमको यह अच्छी रीति गोले के चित्र पर सिद्ध करना है कि गीता पारलौकिक परमपिता परमात्मा ज्ञान सागर ने सुनाई। कृष्ण की महिमा और है, परमपिता परमात्मा की महिमा और है। वह है सतयुग का प्रिन्स, जिसने सहज राजयोग से राज्य-भाग्य पाया है। पढ़ते समय नाम रूप से और है और फिर जब राज्य पाया तब और है – यह सिद्ध कर बताना है। पतित-पावन कृष्ण को कभी नहीं कहेंगे। पतित-पावन है ही एक बाप। अभी फिर से श्रीकृष्ण की आत्मा पतित-पावन द्वारा राजयोग सीख भविष्य पावन दुनिया का प्रिन्स बन रही है। यह सिद्ध कर समझाने में भी युक्तियां चाहिए। फॉरेनर्स को भी सिद्ध कर बताना पड़ता है। नम्बरवन है ही गीता। सर्व शास्त्र-मई श्रीमत भगवत गीता माता। अब माता को जन्म किसने दिया? बाप ही माता को एडाप्ट करते हैं ना। गीता किसने सुनाई? ऐसे नहीं कहेंगे कि क्राइस्ट ने बाइबिल को एडाप्ट किया। क्राइस्ट ने जो शिक्षा दी उनका फिर बाइबिल बनाकर पढ़ते हैं। अब गीता की शिक्षा किसने दी, जो फिर बाद में पुस्तक बनाकर पढ़ते रहते हैं? यह किसको पता नहीं। और सबके शास्त्रों का तो पता है। यह जो सहज राजयोग की शिक्षा है, वह किसने दी है, यह सिद्ध करना है। दुनिया तो दिन-प्रतिदिन तमोप्रधान बनती जाती है। यह सब स्वच्छ बुद्धि में ही बैठ सकता है। जो श्रीमत पर नहीं चलते, उनको धारणा हो न सके। श्रीमत कहेगी तुम बिल्कुल समझा नहीं सकते हो। अपने को ज्ञानी मत समझो। पहले तो मुख्य बात यह सिद्ध करनी है कि गीता का भगवान् परमपिता परमात्मा है, वही पतित-पावन है। मनुष्य तो सर्वव्यापी कह देते हैं वा ब्रह्म तत्व कह देते वा सागर कह देते। जो आया सो कह देते – बिगर अर्थ। भूल सारी गीता से निकली है, जो गीता का भगवान् श्रीकृष्ण कह दिया है। तो समझाने लिए गीता उठानी पड़े। बनारस वाले गुप्ता जी को भी कहते थे कि बनारस में यह सिद्ध कर बतलाओ कि गीता का भगवान् कृष्ण नहीं। अब सम्मेलन तो होते हैं, सब रिलीजस मनुष्य कहते हैं क्या उपाय करें जो शान्ति हो जाए? अब शान्ति स्थापन करना पतित मनुष्यों के हाथ में तो है नहीं। कहते भी हैं पतित-पावन आओ। फिर भी पतित कैसे शान्ति स्थापन कर सकते, जबकि बुलाते रहते हैं परन्तु पतित से पावन बनाने वाले बाप को जानते नहीं हैं। भारत पावन था, अभी पतित है। अब पतित-पावन कौन है? यह कोई की बुद्धि में नहीं आता। कह देते हैं रघुपति राघव…… अब वह राम तो है नहीं। झूठा बुलावा करते हैं। जानते कुछ नहीं। अब यह कौन जाकर बताये? बड़े अच्छे बच्चे चाहिए। समझाने की बड़ी युक्ति चाहिए। बड़ा गोला भी बनवाया है, जिससे सिद्ध हो जाए कि गीता भगवान् ने रची। वह तो कह देते कोई भी हो, हैं तो सब भगवान्। बाप कहते हैं तुम बेसमझ हो। मैंने आकर पावन राज्य स्थापन किया, उसके बदले फिर श्रीकृष्ण का नाम डाल दिया। पतित को ही पावन बनाकर फर्स्ट प्रिन्स बनाता हूँ। भगवानुवाच – मैं कृष्ण की आत्मा को एडाप्ट कर ब्रह्मा बनाए उन द्वारा ज्ञान देता हूँ। वह फिर इस सहज राजयोग से फर्स्ट प्रिन्स सतयुग का बन जाता है। यह समझानी और कोई की बुद्धि में है नहीं।

तुम्हें पहले तो यह भूल सिद्धकर दिखानी है कि श्रीमत भगवत गीता है सब शास्त्रों की माई बाप। उसका रचयिता कौन था? जैसे क्राइस्ट ने बाइबिल को जन्म दिया, वह है क्रिश्चियन धर्म का शास्त्र। अच्छा बाइबिल का बाप कौन? क्राइस्ट। उनको माई-बाप नहीं कहेंगे। मदर की तो वहाँ बात ही नहीं। यह तो यहाँ मात-पिता है। क्रिश्चियन ने रीस की है कृष्ण के धर्म से, यूँ तो वह क्राइस्ट को मानने वाले हैं। जैसे बुद्ध ने धर्म स्थापन किया तो बौद्धियों का शास्त्र भी है। अब गीता किसने सुनायी? उससे कौन-सा धर्म स्थापन हुआ? यह कोई नहीं जानते। कभी नहीं कहते कि पतित-पावन परमपिता परमात्मा ने ज्ञान दिया है। अभी गोला ऐसा बनाया है, जिससे समझ सकें कि बरोबर परमपिता परमात्मा ने ज्ञान दिया है। राधे-कृष्ण तो सतयुग में हैं। उन्होंने अपने को तो ज्ञान नहीं दिया। ज्ञान देने वाला तो दूसरा चाहिए। कोई ने तो उन्हों को पास कराया होगा। यह राजाई प्राप्त कराने का ज्ञान किसने दिया? किस्मत आपेही तो नहीं बनती। किस्मत बनाने वाला या तो बाप या तो टीचर चाहिए। कहते हैं गुरु गति देते हैं। परन्तु गति सद्गति का भी अर्थ नहीं समझते। प्रवृत्ति मार्ग वालों की सद्गति होती है। बाकी गति माना सब बाप के पास जाते हैं। यह बातें कोई भी समझते नहीं। वह तो भक्ति मार्ग में बहुत बड़े-बड़े दुकान खोलकर बैठे हैं। सच्चे ज्ञान मार्ग की दुकान यह एक ही है बाकी सब भक्ति मार्ग की दुकानें हैं। बाप कहते हैं यह वेद-शास्त्र आदि सब भक्ति मार्ग की सामग्री है। इन जप-तप, वेद-शास्त्र आदि का अध्ययन करने से मैं नहीं मिलता हूँ। मैं तो बच्चों को ज्ञान देकर पावन बनाता हूँ। सारी सृष्टि का सद्गति दाता हूँ। वाया गति में जाकर फिर सद्गति में आना है। सब तो सतयुग में नहीं आयेंगे। यह ड्रामा बना हुआ है। जो कल्प पहले तुमको सिखाया था, जो चित्र बनवाये थे, वह अब बनवा रहे हैं।

मनुष्य कहते हैं 3 धर्मों की टांगों पर सृष्टि खड़ी है। एक देवता धर्म की टांग टूटी हुई है इसलिए हिलते रहते हैं। पहले एक धर्म रहता जिसको अद्वेत राज्य कहा जाता है। फिर वह एक टांग कम हो 3 टांगे निकलती हैं, जिसमें कुछ भी ताकत नहीं रहती है। आपस में ही लड़ाई-झगड़ा चलता रहता है। धनी को जानते नहीं। निधनके बन पड़े हैं। समझाने की बड़ी युक्ति चाहिए। प्रदर्शनी में भी यह बात समझानी है कि गीता का भगवान् कृष्ण नहीं है, परमपिता परमात्मा है। जिसका बर्थ प्लेस भारत है। कृष्ण तो है साकार, वह है निराकार। उनकी महिमा बिल्कुल अलग है। ऐसी युक्ति से कार्टून बनाना चाहिए जो सिद्ध हो जाए कि गीता किसने गाई? अंधो के आगे बड़ी आरसी (आइना) रखना है। यह है ही अंधो के आगे आइना। जास्ती टू मच में नहीं जाना है। कड़ी भूल यह है। परमपिता परमात्मा की महिमा अलग है, उसके बदले कृष्ण को महिमा दे दी है। लक्ष्मी-नारायण के चित्र में नीचे राधे-कृष्ण हैं। वही फिर लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। लक्ष्मी-नारायण सतयुग में, राम-सीता त्रेता में। पहला नम्बर बच्चा श्रीकृष्ण है, उनको फिर द्वापर में ले गये हैं। यह सब है भक्तिमार्ग की नूंध। विलायत वाले इन बातों से क्या जानें। ड्रामा अनुसार यह ज्ञान किसके पास भी है नहीं। कहते भी हैं ज्ञान दिन, भक्ति रात। ब्रह्मा का दिन, ब्रह्मा की रात। सतयुग स्थापन करने वाला कौन है? ब्रह्मा आया कहाँ से? सूक्ष्मवतन में कहाँ से आया? परमपिता परमात्मा ही सूक्ष्म सृष्टि रचते हैं। वहाँ ब्रह्मा दिखाते हैं। परन्तु वहाँ तो प्रजापिता ब्रह्मा होता नहीं। जरूर प्रजापिता ब्रह्मा और है। वह कहाँ से आया, यह बातें कोई समझ नहीं सकते। कृष्ण के अन्तिम जन्म में उनको परमात्मा ने अपना रथ बनाया है, यह किसकी बुद्धि में नही है।

यह बड़ा भारी क्लास है। टीचर तो समझते हैं ना – यह स्टूडेण्ट कैसा है? तो क्या बाप नही समझते होंगे? यह बेहद के बाप का क्लास है। यहाँ की बात ही निराली है। शास्त्रों में तो प्रलय आदि दिखाकर कितना रोला कर दिया है। कितना घमण्ड है। रामायण, गीता आदि कैसे बैठ सुनाते हैं। कृष्ण ने तो गीता सुनाई नहीं। उसने तो गीता का ज्ञान सुनकर राज्य पद पाया है। सिद्ध कर समझाते हैं, गीता का भगवान् यह है। उनके गुण यह हैं, कृष्ण के गुण यह हैं। इस भूल के कारण ही भारत कौड़ी जैसा बना है। तुम मातायें उनको कह सकती हो कि तुम लोग कहते हो माता नर्क का द्वार है परन्तु परमात्मा ने तो ज्ञान का कलष माताओं पर रखा है, मातायें ही स्वर्ग का द्वार बनती हैं। तुम निंदा कर रहे हो। परन्तु बोलने वाले बड़े होशियार चाहिए। प्वाइन्ट्स सब नोट कर समझाना चाहिए। भक्ति मार्ग वास्तव में गृहस्थियों के लिए है। यह है प्रवृत्ति मार्ग का सहज राजयोग। हम सिद्ध कर समझाने लिए आये हैं। बच्चों को शो करना है। सदैव हर्षितमुख, अचल, स्थिर, मस्त रहना चाहिए। आगे चल महिमा निकलनी जरूर है। तुम सब हो तो ब्रह्माकुमार कुमारियां। कुमारी वह जो 21 जन्मों लिए बाप से वर्सा दिलाये। कुमारियों की महिमा बहुत भारी है। मुख्य कुमारी तुम्हारी मम्मा है। चन्द्रमा के आगे फिर अच्छा स्टॉर भी चाहिए। यह ज्ञान सूर्य है। यह गुप्त मम्मा अलग है। इस राज़ को तुम बच्चे ही समझकर समझा सकते हो। उस मम्मा का नाम अलग है, मन्दिर उसके हैं। इस गुप्त बुढ़ी माँ का मन्दिर थोड़ेही है। यह मात-पिता कम्बाइन्ड है। दुनिया यह नहीं जानती। कृष्ण तो हो नहीं सकता। वह फिर भी सतयुग का प्रिन्स है। कृष्ण में भगवान् आ न सके। समझाना बहुत सहज है। गीता के भगवान् की महिमा अलग है। वह पतित-पावन सारी दुनिया का गाइड, लिबरेटर है। मनुष्य चित्रों से समझ जायेंगे कि बरोबर परमात्मा की महिमा अलग है, सब एक थोड़ेही हो सकते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपनी अवस्था बड़ी मस्त, अचल अडोल बनानी है। सदा हर्षितमुख रहना है।

2) ज्ञान के शुद्ध घमण्ड (नशे) में रह कर बाप का शो करना है। गीता के भगवान् को सिद्ध कर बाप की सच्ची पहचान देनी है।

वरदान:- सर्व प्राप्तियों की अनुभूति द्वारा माया को विदाई दे बधाई पाने वाले खुशनसीब आत्मा भव
जिनका साथी सर्वशक्तिमान बाप है, उनको सदा ही सर्व प्राप्तियां हैं। उनके सामने कभी किसी प्रकार की माया आ नहीं सकती। जो प्राप्तियों की अनुभूति में रह माया को विदाई देते हैं उन्हें बापदादा द्वारा हर कदम में बधाई मिलती है। तो सदा इसी स्मृति में रहो कि स्वयं भगवान हम आत्माओं को बधाई देते हैं, जो सोचा नहीं वह पा लिया, बाप को पाया सब कुछ पाया ऐसी खुशनसीब आत्मा हो।
स्लोगन:- स्वचिन्तन और प्रभुचिन्तन करो तो व्यर्थ चिंतन स्वत: समाप्त हो जायेगा।

TODAY MURLI 15 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 15 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 14 November 2017 :- Click Here

15/11/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, study well and give the proof of that. Do service and make others worthy, for only then will you claim a right to a high status.
Question: Which children are praised in this unlimited school?
Answer: Those who study well and serve to make others equal to themselves, those who remain busy in earning a spiritual income, who don’t become happy simply seeing others, but who do service in the same way as the mother and father do and sit on their throne: such children are praised by the mother and Father and the special, beloved children. One feels sorry for those who waste their time and don’t pay attention to the study, who don’t follow the mother and father. They cannot claim a high status. They constantly complain that they are unable to have yoga.
Song: Have patience, o mind! Your days of happiness are about to come!

Om shanti. The Father sits here and explains to you children that your days of happiness will come if you follow shrimat. Then, to the extent that you follow shrimat, so you will accordingly become elevated. Everyone will become elevated, but those who follow shrimat well will become very elevated. Some study well and others study less or they don’t study at all. Those who don’t study are considered to be bad. Some study this very well and so they become worthy of teaching others. Some don’t pay attention at all. You children also understand that if you study an education very well you become just as worthy. Otherwise, you will become unworthy. Those who are worthy will definitely receive a good status. You are now studying for the land of happiness and the status in that is also numberwise. People work so hard to receive a status. That happiness is as temporary as the droppings of a crow. Here, you have limitless happiness. The children who follow shrimat will be able to attain limitless happiness and they will glorify their names in the Brahmin clan. The Father’s orders to the children are: Do service and enable others to receive the highest-on-high status and your status will also become high. Study well and give the Father the proof of that: Baba, I gave this many people Baba’s introduction. At exhibitions too, first of all, give the Father’s introduction. Give them His introduction and then make them write it down. It is very easy to explain this. There are two fathers: a worldly father and the Father from beyond the world. You receive a limited inheritance from a worldly father and that is said to be happiness like the droppings of a crow. The unlimited Father gives you unlimited happiness and makes you into the masters of heaven. Therefore, you children have to do service and make others equal to yourselves. You mustn’t simply remember the Father, but you must also do the same service that He does. To remember Krishna or anyone else and then not imbibe virtues like that one is of no use. You don’t receive any fruit from them. On the path of devotion, you only continued to come down by remembering the deities. Now, even Mama and Baba are engaged in the service of giving salvation. The children who do service in the same way as the mother and father are the real children of the Mother and Father. Otherwise, they are said to be weak. The Father is also pleased when He sees that His beloved children are doing the same service that He is doing. In the world, children who study well are able to sit in their father’s heart. They earn a good income. You also have to earn this spiritual income. Don’t become happy just looking at others. Study, teach others and claim a high status, for only then will the mother, Father and the special, beloved children praise you. This is an unlimited school. Thousands come to study here. Those who don’t study well understand that they aren’t able to have proper yoga. Those children are unable to be seated in the Father’s heart. You have become the children and so the mother and Father do sustain you, do they not? Nevertheless, the Father explains: Follow the mother and Father and the special, beloved children. You have to do a lot of service. There are millions of those social workers. If you have knowledge you have to become spiritual social workers. Otherwise, it would be understood that you don’t have full knowledge. Instead of having knowledge, you have more ignorance due to which your status will be destroyed; you won’t be able to claim a high status. The Father feels compassion. Whatever you are studying for, effort is definitely needed. You cannot pass without making effort. Some fail two or three times and so they waste their time. Those who study less should have regard for those who study well because they become senior brothers and sisters and do service like Mama and Baba. Those who serve well are invited everywhere. Therefore, you should think: Why should I not make effort and become like them and make others similar to myself? You have to give the unlimited Father’s introduction and explain how you receive the unlimited inheritance from Him. That unlimited Father who is beyond birth and death is the One who gives you happiness for all time. There are two fathers: one is the Father of the soul and the other is the alokik father and this is why you say, “BapDada”. In worldly relationships too, you have ‘Bap’ and ‘Dada’. This one is the parlokik BapDada. You receive temporary happiness from worldly ones. In the golden age you receive a reward for 21 generations for the efforts you make here at this time. You receive an inheritance of temporary happiness from physical fathers for birth after birth. You continue to receive other fathers and you continue to take rebirth. The inheritance of this time continues for 21 births in the golden and silver ages. Although you continue to receive other fathers, you still remain in the land of happiness. Then the kingdom of Maya begins with the copper age and it gradually becomes your stage of descent. This should remain in your intellects. When you begin to come down, you take births quickly. In one half of the cycle you take 21 births, so why do you take 63 births in the other half of the cycle? Because you are impure, you continue to come down quickly. By the time the Father came, you had come down completely. You have now become Brahmins of the confluence age. Although you have a connectionwith the iron age, you still consider yourselves to be confluence aged. You know that Baba is making you into the masters of the supreme abode. While living at home with your families, you understand that they are living in the iron age whereas you are living in the confluence age. They are storks who indulge in vice and you are swans who are viceless. You mustn’t only show this difference externally. Antarayami Baba (One who knows all secrets within) knows everything internally. The Father says: Children, don’t perform any sinful acts. It is said: Those who steal a straw are the same as those who steal hundreds of thousands. Once someone steals something, there is doubt about him for one to two years. That doubt is then erased with great difficulty. Therefore, why should you perform such acts? It is Maya that makes you perform those acts. After Maya scalps your head, you realise: What have I done? You then ask Baba for forgiveness. Baba says: OK child, it doesn’t matter now, but don’t do it again. It is good that you told Baba about your mistake. Otherwise, that would have continued to increase. Some write to Baba saying: I became angry; I dirtied my face. I dirtied my own face and also that of my wife. Baba then writes back: If, after belonging to the Father and making a promise to Him, you dirty your face and defame the name of the Brahmin clan, you are liable for punishment. The highest on high, even higher than the deities, is the Brahmin clan. You Brahmins make Bharat pure from impure. You had claimed your fortune of the kingdom in the golden and silver ages for 21 births. At that time you were beautiful, and then, for 63 births, you sat on the pyre of lust and became ugly. It is said that the children of the ocean sat on the pyre of lust and were destroyed, and that the ocean then showered the rain of knowledge and they awakened and became beautiful. The Krishna soul definitely has to take 84 births. For 21 births he is beautiful and for 63 births he is ugly. Now, his feet are towards the old world and his face is towards the new world. The one who was the number one worthy-of-worship soul became a worshipper and is now in the last number. He himself became that worshipper and used to worship Narayan. Now, he himself is becoming that worthy-of-worship Narayan. He has to go in the firstnumber. The day of Brahma is heaven and the night of Brahma is hell. Shiv Baba comes to change night into day. The night of half the cycle is now ending and the day is coming. They speak of the night of Shiva but, instead of Shiva’s name, they have inserted Krishna’s name, saying that he took birth in the night. This actually refers to Shiv Baba. They don’t know the date, time or moment when Shiv Baba comes. There is a fixed moment for the coming of Krishna. He is the one who comes into rebirth. Shiv Baba comes and instantly begins to give His introduction. For some time, Baba didn’t even know who had come and who was speaking. It was after some time that he realised it was Shiv Baba, the Ocean of Knowledge, who was speaking. Shiv Baba establishes the land of Vishnu through Brahma. Brahma exists here. The land of Krishna is also here. Behind the throne of Lakshmi and Narayan, there is the picture of Vishnu. However they don’t have knowledge at all. Similarly, the Government has the picture of the Trimurti. This is something to be understood. Some children don’t understand a great deal, but you at least understand the contrast between a worldly father and the Father from beyond, do you not? You also remember: O Purifier, o Merciful One, o Remover of Sorrow and Bestower of Happiness. No one remembers Him in the golden age. It is here that the Father fulfils all your desires. In the golden age you receive such infinite happiness that there is no need for you to work hard. You have to follow shrimat. Those who don’t follow it are orphans; they are called storks. Sometimes, swans have to stay with storks. You have to live at home with your families and this is why there are reportsreceived sometimes: The husband is fighting. So-and-so is fighting. In the world, there is nothing but fighting. There is even fighting because of purity. You have to take precautions about your food and drink. This becomes a problem for many. The Father tells you so much: Eat your meals in remembrance. Directions are not being put into practice. You should practise this. You are the Shaktis who make the impure world pure. Your sins are absolved by having remembrance. This requires a lot of effort and this is why only a handful out of multimillions emerge. Even while making effort, they fail. There are those who are amazed by this knowledge, belong to Baba, and say, “Baba, Baba,” but, in spite of that, they don’t follow shrimat and so they fall and run away. Maya pulls them and so they divorce the Father. Whatever happened in the previous cycle has to repeat. This requires effort. Only those who follow shrimat are able to imbibe. If, after saying “Mama and Baba” you don’t follow them, you will go into degradation, that is, you will attain a low status. Uneducated ones will have to bow down in front of educated ones; they will become maids and servants. Those who don’t become real Brahmins will claim a status worth a few pennies among the subjects. None of the other founders of religions establish a kingdom. It is only the unlimited Father who establishes a kingdom for the future. You have to make effort to become pure. You are becoming flowers whereas those who indulge in vice become thorns. They continue to cause one another sorrow from the beginning through the middle to the end. This is the world of thorns. You are now becoming flowers at the confluence age. The golden age is the garden of flowers. At the confluence age, the forest changes into a garden. This is the auspicious confluence or meeting. It is now that the meeting of souls with the Supreme Soul takes place. You know that you are now claiming your inheritance from the Supreme Father, the Supreme Soul, for 21 births. There is pleasure in attaining a kingdom. However, what would happen by saying that you will receive whatever is in your fortune? You have to give the introduction of the unlimited Father. You are experienced and you have to do service. Ask your heart: How many have I served? If you have knowledge, you should become busy in service. If there is no knowledge, there is no service and there is then no high status. If it is not in their fortune, they don’t make effort. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Put the Father’s directions into practice. Maintain full precautions over your food and drink. Practise staying in remembrance while taking your meals.
  2. Serve like the mother and father serve. Definitely give regard to the seniors. Become spiritual social workers and give everyone the Father’s introduction.
Blessing: May you experience constant success by having the awareness of the company of the Almighty Authority with your combined form.
Make the Almighty Authority your Companion and all the powers will always be with you. Where there are all powers, it is impossible not to have success. However, if you lack staying combined with the Father, if Maya separates the combined form, then there isn’t as much success. Only after working hard would there be success. Success constantly stays around those who are master almighty authorities.
Slogan: In order to claim blessings from everyone, continue to say “Ha ji” (Yes indeed) and extend your hand of co-operation.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_1]

Read Murli 13 November 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 15 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 November 2017

November 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 14 November 2017 :- Click Here
15/11/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – पढ़ाई अच्छी रीति पढ़कर उसका सबूत दो, सर्विस कर औरों को भी लायक बनाओ तब ऊंच पद के अधिकारी बनेंगे
प्रश्नः- इस बेहद के स्कूल में वाह-वाह किन्हों की होती है?
उत्तर:- जो खुद अच्छी रीति पढ़ते हैं और दूसरों को आप समान बनाने की सेवा करते हैं। रूहानी कमाई में बिजी रहते हैं। सिर्फ दूसरों को देख खुश नहीं होते लेकिन मात-पिता समान सेवा कर उनके तख्त पर बैठते हैं उनकी वाह-वाह मात-पिता वा अनन्य बच्चे करते हैं। जो अपना टाइम वेस्ट करते, पढ़ाई पर ध्यान नहीं देते, मात-पिता को फालो नहीं करते उन पर तरस पड़ता है। वह ऊंच पद पा नहीं सकते। उनकी सदा कम्पलेन रहती कि हमारा योग नहीं लगता।
गीत:- धीरज धर मनुआ….

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं कि सुख के दिन आयेंगे अगर श्रीमत पर चलेंगे तो। फिर जितना श्रीमत पर चलेंगे उतना ही श्रेष्ठ बनेंगे क्योंकि श्रेष्ठ अर्थात् श्रेष्ठाचारी तो सब बनेंगे परन्तु जो अच्छी रीति श्रीमत पर चलेंगे वह अच्छा श्रेष्ठाचारी बनेंगे। पढ़ाई में भी कोई अच्छी रीति पढ़ते हैं, कोई कम पढ़ते हैं अथवा नहीं पढ़ते हैं। न पढ़ने वालों को बुरा माना जाता है। यह पढ़ाई भी कोई अच्छी रीति पढ़ते हैं तो औरों को पढ़ाने लायक भी बनते है। कोई तो ध्यान ही नहीं देते। यह भी बच्चे समझते हैं कि अगर हम कोई भी विद्या अच्छी रीति पढ़ेंगे तो ऐसा ही लायक बनेंगे, नहीं तो नालायक बनेंगे। लायक को जरूर अच्छा दर्जा मिलेगा। तुम अभी सुखधाम के लिए पढ़ते हो फिर उसमें भी नम्बरवार मर्तबे हैं। मनुष्य मर्तबे के लिए कितना माथा मारते हैं। वह है अल्पकाल का सुख, काग विष्टा समान सुख। यह तो अथाह सुख है। जो बच्चे श्रीमत पर चलेंगे, वही अथाह सुख पा सकेंगे और वह ब्राह्मण कुल में भी अपना नाम निकालेंगे। बाप का बच्चों को फरमान है – सर्विस कर औरों को भी ऊंचे ते ऊंचा पद दिलाओ तो तुम्हारा भी पद ऊंचा हो जायेगा। अच्छी रीति पढ़कर फिर बाप को सबूत देना है। बाबा हमने इतनों को बाबा का परिचय दिया। प्रदर्शनी में भी पहले-पहले बाप का परिचय देते हो। परिचय देकर फिर लिखवा लो। समझाना बहुत सहज है। बाप दो होते हैं लौकिक और पारलौकिक। लौकिक से हद का वर्सा मिलता है, जिसको काग विष्टा समान सुख कहा जाता है। बेहद का बाप बेहद का सुख देते, स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। तो बच्चों को सर्विस कर आप समान बनाना है। बाप को सिर्फ याद नहीं करना है, लेकिन उन जैसी सर्विस भी करना है। कृष्ण अथवा किसको भी याद करना, उनके गुण न धारण करना, वह क्या काम के। उनसे फल कुछ नहीं मिलता। भक्ति मार्ग में भी देवताओं को याद करते-करते नीचे उतरते जाते हैं। अब मम्मा बाबा भी सद्गति करने की सर्विस में लगे हुए हैं। जो मॉ बाप मुआफिक सर्विस करते हैं, वही सच्चे माँ बाप के बच्चे हैं। नहीं तो कच्चे कहा जाता है। बाप भी खुश तब हो जब देखे कि मेरे लाड़ले बच्चे मेरे समान सर्विस करते हैं। लौकिक रीति में भी जो बच्चे अच्छी रीति पढ़ते हैं वह बाप के दिल पर चढ़ते हैं। अच्छी कमाई करते हैं। यह भी तुमको रूहानी कमाई करनी है, सिर्फ दूसरों को देख खुश नहीं होना है। पढ़ाई पढ़कर और पढ़ाकर ऊंच पद पाना है, तब माँ बाप, अनन्य बच्चे उनकी वाह-वाह करेंगे।

यह बेहद का स्कूल है। हजारों यहाँ पढ़ते हैं। जो अच्छी रीति नहीं पढ़ते वह खुद भी समझते होंगे कि हमारा योग पूरा नहीं लगता है। वह बच्चे बाप की दिल पर चढ़ नहीं सकते। बच्चे बने हैं तो माँ बाप पालना तो करते हैं ना। फिर भी बाप समझाते हैं मात-पिता और अनन्य बच्चों को फालो करो। सर्विस तो बहुत करनी है। वह सोशल वर्कर करोड़ों की अन्दाज में होंगे। तुमको रूहानी सोशल वर्कर बनना है। अगर ज्ञान है तो। नहीं तो समझेंगे पूरा ज्ञान नहीं है। ज्ञान के बदले अज्ञान जास्ती है जिस कारण पद भ्रष्ट हो जायेगा, ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। बाप को तरस पड़ता है। हर पढ़ाई में पुरुषार्थ जरूर चाहिए। पुरुषार्थ बिगर पास हो नहीं सकेंगे। कोई दो तीन बारी फेल होता है तो अपना टाइम वेस्ट गँवाते हैं। तो कम पढ़ने वालों को जो अच्छी रीति पढ़ते हैं उनका रिगार्ड रखना चाहिए क्योंकि वह बड़े भाई बहन हो जाते हैं। मम्मा बाबा मिसल सर्विस करते हैं। अच्छी सर्विस करने वालों को जहाँ तहाँ बुलाते हैं। तो समझना चाहिए क्यों न हम पुरुषार्थ कर ऐसा बनें। औरों को आप समान बनावें। बेहद के बाप का परिचय देना है कि उनसे कैसे बेहद का वर्सा मिलता है। वह बेहद का बाप जन्म-मरण रहित सदा सुख देने वाला है। बाप दो हैं एक आत्माओं का बाप, दूसरा अलौकिक, तब तुम बापदादा कहते हो। लौकिक सम्बन्ध में भी बापदादा होता है। यह फिर पारलौकिक बापदादा। लौकिक से अल्पकाल का सुख मिलता, पारलौकिक बाप से तुम भविष्य 21 पीढ़ी की प्रालब्ध पाते हो। लौकिक बाप से अल्पकाल सुख का वर्सा जन्म बाई जन्म मिलता है। जन्म लेते जाओ दूसरा बाप मिलता जाये। सतयुग त्रेता में यहाँ का वर्सा 21 जन्म चलता है। भल बाप दूसरे-दूसरे मिलते जायेंगे परन्तु हम सुखधाम में ही रहते हैं। फिर द्वापर से माया का राज्य शुरू होता है फिर हमारी धीरे-धीरे उतरती कला होती है। यह बुद्धि में रहना चाहिए। जब उतरते हैं तो जल्दी-जल्दी जन्म लेते जाते हैं। आधाकल्प में 21 जन्म लेते हैं बाकी आधाकल्प में 63 जन्म क्यों? पतित होने से जल्दी-जल्दी उतरते जाते हैं। जब बाप आये तो हम एकदम उतर गये थे। अभी तुम संगमयुगी ब्राह्मण बने हो। भल तुम्हारा कलियुग के साथ कनेक्शन है। परन्तु अपने को संगमयुगी समझते हो। जानते हो बाबा हमको परमधाम का मालिक बना रहे हैं। गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए तुम समझते हो वह कलियुग में रहने वाले हैं, हम संगमयुग में रहने वाले हैं। वह विकारी बगुले हैं, हम निर्विकारी हंस हैं। सिर्फ बाहर से नहीं दिखाना है। अन्तर्यामी बाबा अन्दर से जानते हैं।

बाप समझाते रहते हैं बच्चे कोई पाप कर्म नहीं करो। कहा जाता है कख का चोर सो लख का चोर। एक बार चोरी करते हैं फिर एक दो वर्ष शक्य रहता है। शक मुश्किल ही मिटता है। तो ऐसा काम करना ही क्यों चाहिए। यह सब काम माया कराती है। जब माया माथा मूड लेती है तब स्मृति आती है, हमने यह क्या किया? फिर बाबा से क्षमा मांगते हैं। बाबा कहते हैं अच्छा बच्चे हर्जा नहीं, फिर नहीं करना। अच्छा हुआ जो भूल बताई। नहीं तो वृद्धि हो जाती। बाबा को लिखते हैं हमने क्रोध किया, काला मुहँ किया। अपना भी तो स्त्री का भी किया। बाबा लिखते हैं बाप का बनकर प्रतिज्ञा कर काला मुहँ किया, ब्राह्मण कुल को कलंक लगाया, सज़ा के अधिकारी बन जायेंगे। ऊंचे ते ऊंचा है ब्राह्मण कुल, देवताओं से भी ऊंचा है। तुम ब्राह्मण भारत को पतित से पावन बनाते हो। तुमने सतयुग त्रेता में 21 जन्म राज्य भाग्य किया तब सुन्दर थे फिर 63 जन्म काम चिता पर बैठ काले हो गये, तब श्याम बने। कहते हैं सागर के बच्चे काम चिता पर बैठ खत्म हो गये। फिर सागर ने ज्ञान वर्षा की तो जाग पड़े। गोरे हो गये। इस कृष्ण की आत्मा को 84 जन्म जरूर लेने हैं। 21जन्म सुन्दर, 63 जन्म श्याम। अब उनकी लात पुरानी दुनिया तरफ है, मुँह नई दुनिया तरफ है। जो नम्बरवन पूज्य था वही पुजारी बन अब लास्ट नम्बर में है। खुद ही पुजारी बन नारायण की पूजा करते थे। अब खुद ही पूज्य नारायण बनते हैं, इनको ही फर्स्ट नम्बर में जाना है। ब्रह्मा का दिन स्वर्ग, ब्रह्मा की रात नर्क। शिवबाबा आते हैं रात को दिन बनाने। अब आधाकल्प की रात पूरी हो, दिन होता है। शिवरात्रि कहते हैं परन्तु शिव के बदले कृष्ण का नाम कह दिया है कि कृष्ण का जन्म रात को हुआ। है शिवबाबा की बात। शिवबाबा की तिथि तारीख वेला का कुछ भी पता नहीं कि किस समय आया। कृष्ण की वेला है। वह पुनर्जन्म में आने वाला है। शिवबाबा तो झट आकर परिचय देने लग पड़ते हैं। कुछ समय तो पता ही नहीं पड़ा कि यह कौन आया है? कौन बोल रहे हैं? बाद में मालूम पड़ा कि यह तो शिवबाबा ज्ञान का सागर है। शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा विष्णुपुरी की स्थापना करते हैं। ब्रह्मा यहाँ है। कृष्णपुरी भी यहाँ है। लक्ष्मी-नारायण के तख्त पिछाड़ी विष्णु का चित्र होता है। परन्तु ज्ञान कुछ भी नहीं। जैसे गवर्मेन्ट का त्रिमूर्ति चित्र है। यह समझने की बात है। बच्चे जास्ती नहीं समझते हैं, भला लौकिक पारलौकिक बाप का कान्ट्रास्ट तो समझते हो ना। याद भी करते हैं हे पतित-पावन, हे रहमदिल, हे दु:ख हर्ता सुख कर्ता। सतयुग में कोई याद नहीं करते। बाप यहाँ ही सब मनोकामना पूरी कर देते हैं। सतयुग में तुमको इतना अथाह धन मिलता है जो वहाँ माथा मारने की दरकार ही नहीं। तुमको श्रीमत पर चलना चाहिए। जो नहीं चलते गोया निधनके हैं, उनको कहा जाता है बगुला। तो हंसों को बगुलों के साथ भी रहना पड़ता है। गृहस्थ व्यवहार में तो रहना ही है इसलिए रिपोर्ट आती है भाई झगड़ा करता, फलाना झगड़ा करता, दुनिया में झगड़ा ही झगड़ा है। पवित्रता पर भी झगड़ा चलता है। खान-पान की परहेज रखनी होती है। तो बहुतों के लिए मुशीबत हो जाती है। बाप कितना समझाते हैं, याद में रहकर भोजन खाओ। डायरेक्शन अमल में नहीं लाते हैं। प्रैक्टिस करनी चाहिए। तुम हो पतित दुनिया को पावन बनाने वाली शक्तियाँ। याद से पाप भस्म हो जाते हैं। मेहनत है बहुत इसलिए कोटों में कोई निकलता है। पुरुषार्थ करते भी फेल हो जाते हैं। आश्चर्यवत बाबा का बनन्ती, बाबा बाबा कहन्ती। फिर भी श्रीमत पर नहीं चलते, तो गिरन्ती, भागन्ती। माया खींचती है तो बाप को फारकती दे देते हैं। कल्प पहले जो हुआ है वही रिपीट होना है, इसमें मेहनत चाहिए। जो श्रीमत पर चलते वही धारणा कर सकते हैं। मम्मा बाबा कहकर फालो नहीं करेंगे तो दुर्गति को पायेंगे अर्थात् कम पद पायेंगे। अनपढ़े, पढ़े के आगे भरी ढोयेंगे। नौकर चाकर बनेंगे। जो ब्राह्मण नहीं बनते वह प्रजा में पाई पैसे का पद पायेंगे। और कोई धर्म स्थापन करने वाला राजाई नहीं स्थापन करते। बेहद का बाप ही भविष्य के लिए राजाई स्थापन करते हैं। पवित्र बनने के लिए पुरुषार्थ करना पड़े। तुम फूल बनते हो, जो विकार में जाते हैं वह काँटे बनते हैं। एक दो को आदि-मध्य-अन्त दु:ख देते हैं। यह है काँटों की दुनिया। अब तुम संगम पर फूल बन रहे हो। सतयुग है फूलों का बगीचा। संगम पर जंगल से बगीचा बनता है। यह है कल्याणकारी संगम अथवा कुम्भ। आत्मा परमात्मा का मिलन होता है। अभी तुम जानते हो हम परमपिता परमात्मा से 21 जन्म का वर्सा ले रहे हैं। राजाई पाने में मज़ा है। बाकी यह कहना कि तकदीर में होगा तो मिलेगा, इससे क्या होगा। बेहद बाप का परिचय देना है। तुम अनुभवी हो, सर्विस तो करनी है। दिल से पूछना है कि हमने कितनों की सर्विस की। ज्ञान है तो सर्विस में लग जाना है। नो ज्ञान तो नो सर्विस, तो नो ऊंच पद। तकदीर में नहीं है तो पुरुषार्थ भी नहीं करते। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे रूहानी सर्विसएबुल बच्चों प्रति रूहानी बाप व दादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप के डायरेक्शन को अमल में लाना है। खान-पान की पूरी परहेज रखनी है। याद में रहकर भोजन खाने का अभ्यास करना है।

2) मात-पिता की तरह सेवा करनी है। अपने बड़ों का रिगार्ड जरूर रखना है। रूहानी सोशल वर्कर बन सबको बाप का परिचय देना है।

वरदान:- सर्वशक्तिमान् के साथ की स्मृति द्वारा सदा सफलता का अनुभव करने वाले कम्बाइन्ड रूपधारी भव 
सर्वशक्तिमान् बाप को अपना साथी बना लो तो शक्तियां सदा साथ रहेंगी। और जहाँ सर्व शक्तियां हैं वहाँ सफलता न हो – यह असम्भव है। लेकिन यदि बाप से कम्बाइन्ड रहने में कमी है, माया कम्बाइन्ड रूप को अलग कर देती है तो सफलता भी कम हो जाती है, मेहनत करने के बाद सफलता होती है। मास्टर सर्वशक्तिमान् के आगे सफलता तो आगे पीछे घूमती है।
स्लोगन:- सबकी दुआयें लेनी हैं तो हाँ जी करते हुए सहयोग का हाथ बढ़ाते चलो।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 13 November 2017 :- Click Here

Font Resize