15 november 2017

TODAY MURLI 15 NOVEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 15 NOVEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 14 November 2017 :- Click Here

15/11/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, study well and give the proof of that. Do service and make others worthy, for only then will you claim a right to a high status.
Question: Which children are praised in this unlimited school?
Answer: Those who study well and serve to make others equal to themselves, those who remain busy in earning a spiritual income, who don’t become happy simply seeing others, but who do service in the same way as the mother and father do and sit on their throne: such children are praised by the mother and Father and the special, beloved children. One feels sorry for those who waste their time and don’t pay attention to the study, who don’t follow the mother and father. They cannot claim a high status. They constantly complain that they are unable to have yoga.
Song: Have patience, o mind! Your days of happiness are about to come!

Om shanti. The Father sits here and explains to you children that your days of happiness will come if you follow shrimat. Then, to the extent that you follow shrimat, so you will accordingly become elevated. Everyone will become elevated, but those who follow shrimat well will become very elevated. Some study well and others study less or they don’t study at all. Those who don’t study are considered to be bad. Some study this very well and so they become worthy of teaching others. Some don’t pay attention at all. You children also understand that if you study an education very well you become just as worthy. Otherwise, you will become unworthy. Those who are worthy will definitely receive a good status. You are now studying for the land of happiness and the status in that is also numberwise. People work so hard to receive a status. That happiness is as temporary as the droppings of a crow. Here, you have limitless happiness. The children who follow shrimat will be able to attain limitless happiness and they will glorify their names in the Brahmin clan. The Father’s orders to the children are: Do service and enable others to receive the highest-on-high status and your status will also become high. Study well and give the Father the proof of that: Baba, I gave this many people Baba’s introduction. At exhibitions too, first of all, give the Father’s introduction. Give them His introduction and then make them write it down. It is very easy to explain this. There are two fathers: a worldly father and the Father from beyond the world. You receive a limited inheritance from a worldly father and that is said to be happiness like the droppings of a crow. The unlimited Father gives you unlimited happiness and makes you into the masters of heaven. Therefore, you children have to do service and make others equal to yourselves. You mustn’t simply remember the Father, but you must also do the same service that He does. To remember Krishna or anyone else and then not imbibe virtues like that one is of no use. You don’t receive any fruit from them. On the path of devotion, you only continued to come down by remembering the deities. Now, even Mama and Baba are engaged in the service of giving salvation. The children who do service in the same way as the mother and father are the real children of the Mother and Father. Otherwise, they are said to be weak. The Father is also pleased when He sees that His beloved children are doing the same service that He is doing. In the world, children who study well are able to sit in their father’s heart. They earn a good income. You also have to earn this spiritual income. Don’t become happy just looking at others. Study, teach others and claim a high status, for only then will the mother, Father and the special, beloved children praise you. This is an unlimited school. Thousands come to study here. Those who don’t study well understand that they aren’t able to have proper yoga. Those children are unable to be seated in the Father’s heart. You have become the children and so the mother and Father do sustain you, do they not? Nevertheless, the Father explains: Follow the mother and Father and the special, beloved children. You have to do a lot of service. There are millions of those social workers. If you have knowledge you have to become spiritual social workers. Otherwise, it would be understood that you don’t have full knowledge. Instead of having knowledge, you have more ignorance due to which your status will be destroyed; you won’t be able to claim a high status. The Father feels compassion. Whatever you are studying for, effort is definitely needed. You cannot pass without making effort. Some fail two or three times and so they waste their time. Those who study less should have regard for those who study well because they become senior brothers and sisters and do service like Mama and Baba. Those who serve well are invited everywhere. Therefore, you should think: Why should I not make effort and become like them and make others similar to myself? You have to give the unlimited Father’s introduction and explain how you receive the unlimited inheritance from Him. That unlimited Father who is beyond birth and death is the One who gives you happiness for all time. There are two fathers: one is the Father of the soul and the other is the alokik father and this is why you say, “BapDada”. In worldly relationships too, you have ‘Bap’ and ‘Dada’. This one is the parlokik BapDada. You receive temporary happiness from worldly ones. In the golden age you receive a reward for 21 generations for the efforts you make here at this time. You receive an inheritance of temporary happiness from physical fathers for birth after birth. You continue to receive other fathers and you continue to take rebirth. The inheritance of this time continues for 21 births in the golden and silver ages. Although you continue to receive other fathers, you still remain in the land of happiness. Then the kingdom of Maya begins with the copper age and it gradually becomes your stage of descent. This should remain in your intellects. When you begin to come down, you take births quickly. In one half of the cycle you take 21 births, so why do you take 63 births in the other half of the cycle? Because you are impure, you continue to come down quickly. By the time the Father came, you had come down completely. You have now become Brahmins of the confluence age. Although you have a connectionwith the iron age, you still consider yourselves to be confluence aged. You know that Baba is making you into the masters of the supreme abode. While living at home with your families, you understand that they are living in the iron age whereas you are living in the confluence age. They are storks who indulge in vice and you are swans who are viceless. You mustn’t only show this difference externally. Antarayami Baba (One who knows all secrets within) knows everything internally. The Father says: Children, don’t perform any sinful acts. It is said: Those who steal a straw are the same as those who steal hundreds of thousands. Once someone steals something, there is doubt about him for one to two years. That doubt is then erased with great difficulty. Therefore, why should you perform such acts? It is Maya that makes you perform those acts. After Maya scalps your head, you realise: What have I done? You then ask Baba for forgiveness. Baba says: OK child, it doesn’t matter now, but don’t do it again. It is good that you told Baba about your mistake. Otherwise, that would have continued to increase. Some write to Baba saying: I became angry; I dirtied my face. I dirtied my own face and also that of my wife. Baba then writes back: If, after belonging to the Father and making a promise to Him, you dirty your face and defame the name of the Brahmin clan, you are liable for punishment. The highest on high, even higher than the deities, is the Brahmin clan. You Brahmins make Bharat pure from impure. You had claimed your fortune of the kingdom in the golden and silver ages for 21 births. At that time you were beautiful, and then, for 63 births, you sat on the pyre of lust and became ugly. It is said that the children of the ocean sat on the pyre of lust and were destroyed, and that the ocean then showered the rain of knowledge and they awakened and became beautiful. The Krishna soul definitely has to take 84 births. For 21 births he is beautiful and for 63 births he is ugly. Now, his feet are towards the old world and his face is towards the new world. The one who was the number one worthy-of-worship soul became a worshipper and is now in the last number. He himself became that worshipper and used to worship Narayan. Now, he himself is becoming that worthy-of-worship Narayan. He has to go in the firstnumber. The day of Brahma is heaven and the night of Brahma is hell. Shiv Baba comes to change night into day. The night of half the cycle is now ending and the day is coming. They speak of the night of Shiva but, instead of Shiva’s name, they have inserted Krishna’s name, saying that he took birth in the night. This actually refers to Shiv Baba. They don’t know the date, time or moment when Shiv Baba comes. There is a fixed moment for the coming of Krishna. He is the one who comes into rebirth. Shiv Baba comes and instantly begins to give His introduction. For some time, Baba didn’t even know who had come and who was speaking. It was after some time that he realised it was Shiv Baba, the Ocean of Knowledge, who was speaking. Shiv Baba establishes the land of Vishnu through Brahma. Brahma exists here. The land of Krishna is also here. Behind the throne of Lakshmi and Narayan, there is the picture of Vishnu. However they don’t have knowledge at all. Similarly, the Government has the picture of the Trimurti. This is something to be understood. Some children don’t understand a great deal, but you at least understand the contrast between a worldly father and the Father from beyond, do you not? You also remember: O Purifier, o Merciful One, o Remover of Sorrow and Bestower of Happiness. No one remembers Him in the golden age. It is here that the Father fulfils all your desires. In the golden age you receive such infinite happiness that there is no need for you to work hard. You have to follow shrimat. Those who don’t follow it are orphans; they are called storks. Sometimes, swans have to stay with storks. You have to live at home with your families and this is why there are reportsreceived sometimes: The husband is fighting. So-and-so is fighting. In the world, there is nothing but fighting. There is even fighting because of purity. You have to take precautions about your food and drink. This becomes a problem for many. The Father tells you so much: Eat your meals in remembrance. Directions are not being put into practice. You should practise this. You are the Shaktis who make the impure world pure. Your sins are absolved by having remembrance. This requires a lot of effort and this is why only a handful out of multimillions emerge. Even while making effort, they fail. There are those who are amazed by this knowledge, belong to Baba, and say, “Baba, Baba,” but, in spite of that, they don’t follow shrimat and so they fall and run away. Maya pulls them and so they divorce the Father. Whatever happened in the previous cycle has to repeat. This requires effort. Only those who follow shrimat are able to imbibe. If, after saying “Mama and Baba” you don’t follow them, you will go into degradation, that is, you will attain a low status. Uneducated ones will have to bow down in front of educated ones; they will become maids and servants. Those who don’t become real Brahmins will claim a status worth a few pennies among the subjects. None of the other founders of religions establish a kingdom. It is only the unlimited Father who establishes a kingdom for the future. You have to make effort to become pure. You are becoming flowers whereas those who indulge in vice become thorns. They continue to cause one another sorrow from the beginning through the middle to the end. This is the world of thorns. You are now becoming flowers at the confluence age. The golden age is the garden of flowers. At the confluence age, the forest changes into a garden. This is the auspicious confluence or meeting. It is now that the meeting of souls with the Supreme Soul takes place. You know that you are now claiming your inheritance from the Supreme Father, the Supreme Soul, for 21 births. There is pleasure in attaining a kingdom. However, what would happen by saying that you will receive whatever is in your fortune? You have to give the introduction of the unlimited Father. You are experienced and you have to do service. Ask your heart: How many have I served? If you have knowledge, you should become busy in service. If there is no knowledge, there is no service and there is then no high status. If it is not in their fortune, they don’t make effort. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Put the Father’s directions into practice. Maintain full precautions over your food and drink. Practise staying in remembrance while taking your meals.
  2. Serve like the mother and father serve. Definitely give regard to the seniors. Become spiritual social workers and give everyone the Father’s introduction.
Blessing: May you experience constant success by having the awareness of the company of the Almighty Authority with your combined form.
Make the Almighty Authority your Companion and all the powers will always be with you. Where there are all powers, it is impossible not to have success. However, if you lack staying combined with the Father, if Maya separates the combined form, then there isn’t as much success. Only after working hard would there be success. Success constantly stays around those who are master almighty authorities.
Slogan: In order to claim blessings from everyone, continue to say “Ha ji” (Yes indeed) and extend your hand of co-operation.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_1]

Read Murli 13 November 2017 :- Click Here

BRAHMA KUMARIS MURLI 15 NOVEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 November 2017

November 2017 Bk Murli :- Click Here
To Read Murli 14 November 2017 :- Click Here
15/11/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – पढ़ाई अच्छी रीति पढ़कर उसका सबूत दो, सर्विस कर औरों को भी लायक बनाओ तब ऊंच पद के अधिकारी बनेंगे
प्रश्नः- इस बेहद के स्कूल में वाह-वाह किन्हों की होती है?
उत्तर:- जो खुद अच्छी रीति पढ़ते हैं और दूसरों को आप समान बनाने की सेवा करते हैं। रूहानी कमाई में बिजी रहते हैं। सिर्फ दूसरों को देख खुश नहीं होते लेकिन मात-पिता समान सेवा कर उनके तख्त पर बैठते हैं उनकी वाह-वाह मात-पिता वा अनन्य बच्चे करते हैं। जो अपना टाइम वेस्ट करते, पढ़ाई पर ध्यान नहीं देते, मात-पिता को फालो नहीं करते उन पर तरस पड़ता है। वह ऊंच पद पा नहीं सकते। उनकी सदा कम्पलेन रहती कि हमारा योग नहीं लगता।
गीत:- धीरज धर मनुआ….

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं कि सुख के दिन आयेंगे अगर श्रीमत पर चलेंगे तो। फिर जितना श्रीमत पर चलेंगे उतना ही श्रेष्ठ बनेंगे क्योंकि श्रेष्ठ अर्थात् श्रेष्ठाचारी तो सब बनेंगे परन्तु जो अच्छी रीति श्रीमत पर चलेंगे वह अच्छा श्रेष्ठाचारी बनेंगे। पढ़ाई में भी कोई अच्छी रीति पढ़ते हैं, कोई कम पढ़ते हैं अथवा नहीं पढ़ते हैं। न पढ़ने वालों को बुरा माना जाता है। यह पढ़ाई भी कोई अच्छी रीति पढ़ते हैं तो औरों को पढ़ाने लायक भी बनते है। कोई तो ध्यान ही नहीं देते। यह भी बच्चे समझते हैं कि अगर हम कोई भी विद्या अच्छी रीति पढ़ेंगे तो ऐसा ही लायक बनेंगे, नहीं तो नालायक बनेंगे। लायक को जरूर अच्छा दर्जा मिलेगा। तुम अभी सुखधाम के लिए पढ़ते हो फिर उसमें भी नम्बरवार मर्तबे हैं। मनुष्य मर्तबे के लिए कितना माथा मारते हैं। वह है अल्पकाल का सुख, काग विष्टा समान सुख। यह तो अथाह सुख है। जो बच्चे श्रीमत पर चलेंगे, वही अथाह सुख पा सकेंगे और वह ब्राह्मण कुल में भी अपना नाम निकालेंगे। बाप का बच्चों को फरमान है – सर्विस कर औरों को भी ऊंचे ते ऊंचा पद दिलाओ तो तुम्हारा भी पद ऊंचा हो जायेगा। अच्छी रीति पढ़कर फिर बाप को सबूत देना है। बाबा हमने इतनों को बाबा का परिचय दिया। प्रदर्शनी में भी पहले-पहले बाप का परिचय देते हो। परिचय देकर फिर लिखवा लो। समझाना बहुत सहज है। बाप दो होते हैं लौकिक और पारलौकिक। लौकिक से हद का वर्सा मिलता है, जिसको काग विष्टा समान सुख कहा जाता है। बेहद का बाप बेहद का सुख देते, स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। तो बच्चों को सर्विस कर आप समान बनाना है। बाप को सिर्फ याद नहीं करना है, लेकिन उन जैसी सर्विस भी करना है। कृष्ण अथवा किसको भी याद करना, उनके गुण न धारण करना, वह क्या काम के। उनसे फल कुछ नहीं मिलता। भक्ति मार्ग में भी देवताओं को याद करते-करते नीचे उतरते जाते हैं। अब मम्मा बाबा भी सद्गति करने की सर्विस में लगे हुए हैं। जो मॉ बाप मुआफिक सर्विस करते हैं, वही सच्चे माँ बाप के बच्चे हैं। नहीं तो कच्चे कहा जाता है। बाप भी खुश तब हो जब देखे कि मेरे लाड़ले बच्चे मेरे समान सर्विस करते हैं। लौकिक रीति में भी जो बच्चे अच्छी रीति पढ़ते हैं वह बाप के दिल पर चढ़ते हैं। अच्छी कमाई करते हैं। यह भी तुमको रूहानी कमाई करनी है, सिर्फ दूसरों को देख खुश नहीं होना है। पढ़ाई पढ़कर और पढ़ाकर ऊंच पद पाना है, तब माँ बाप, अनन्य बच्चे उनकी वाह-वाह करेंगे।

यह बेहद का स्कूल है। हजारों यहाँ पढ़ते हैं। जो अच्छी रीति नहीं पढ़ते वह खुद भी समझते होंगे कि हमारा योग पूरा नहीं लगता है। वह बच्चे बाप की दिल पर चढ़ नहीं सकते। बच्चे बने हैं तो माँ बाप पालना तो करते हैं ना। फिर भी बाप समझाते हैं मात-पिता और अनन्य बच्चों को फालो करो। सर्विस तो बहुत करनी है। वह सोशल वर्कर करोड़ों की अन्दाज में होंगे। तुमको रूहानी सोशल वर्कर बनना है। अगर ज्ञान है तो। नहीं तो समझेंगे पूरा ज्ञान नहीं है। ज्ञान के बदले अज्ञान जास्ती है जिस कारण पद भ्रष्ट हो जायेगा, ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। बाप को तरस पड़ता है। हर पढ़ाई में पुरुषार्थ जरूर चाहिए। पुरुषार्थ बिगर पास हो नहीं सकेंगे। कोई दो तीन बारी फेल होता है तो अपना टाइम वेस्ट गँवाते हैं। तो कम पढ़ने वालों को जो अच्छी रीति पढ़ते हैं उनका रिगार्ड रखना चाहिए क्योंकि वह बड़े भाई बहन हो जाते हैं। मम्मा बाबा मिसल सर्विस करते हैं। अच्छी सर्विस करने वालों को जहाँ तहाँ बुलाते हैं। तो समझना चाहिए क्यों न हम पुरुषार्थ कर ऐसा बनें। औरों को आप समान बनावें। बेहद के बाप का परिचय देना है कि उनसे कैसे बेहद का वर्सा मिलता है। वह बेहद का बाप जन्म-मरण रहित सदा सुख देने वाला है। बाप दो हैं एक आत्माओं का बाप, दूसरा अलौकिक, तब तुम बापदादा कहते हो। लौकिक सम्बन्ध में भी बापदादा होता है। यह फिर पारलौकिक बापदादा। लौकिक से अल्पकाल का सुख मिलता, पारलौकिक बाप से तुम भविष्य 21 पीढ़ी की प्रालब्ध पाते हो। लौकिक बाप से अल्पकाल सुख का वर्सा जन्म बाई जन्म मिलता है। जन्म लेते जाओ दूसरा बाप मिलता जाये। सतयुग त्रेता में यहाँ का वर्सा 21 जन्म चलता है। भल बाप दूसरे-दूसरे मिलते जायेंगे परन्तु हम सुखधाम में ही रहते हैं। फिर द्वापर से माया का राज्य शुरू होता है फिर हमारी धीरे-धीरे उतरती कला होती है। यह बुद्धि में रहना चाहिए। जब उतरते हैं तो जल्दी-जल्दी जन्म लेते जाते हैं। आधाकल्प में 21 जन्म लेते हैं बाकी आधाकल्प में 63 जन्म क्यों? पतित होने से जल्दी-जल्दी उतरते जाते हैं। जब बाप आये तो हम एकदम उतर गये थे। अभी तुम संगमयुगी ब्राह्मण बने हो। भल तुम्हारा कलियुग के साथ कनेक्शन है। परन्तु अपने को संगमयुगी समझते हो। जानते हो बाबा हमको परमधाम का मालिक बना रहे हैं। गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए तुम समझते हो वह कलियुग में रहने वाले हैं, हम संगमयुग में रहने वाले हैं। वह विकारी बगुले हैं, हम निर्विकारी हंस हैं। सिर्फ बाहर से नहीं दिखाना है। अन्तर्यामी बाबा अन्दर से जानते हैं।

बाप समझाते रहते हैं बच्चे कोई पाप कर्म नहीं करो। कहा जाता है कख का चोर सो लख का चोर। एक बार चोरी करते हैं फिर एक दो वर्ष शक्य रहता है। शक मुश्किल ही मिटता है। तो ऐसा काम करना ही क्यों चाहिए। यह सब काम माया कराती है। जब माया माथा मूड लेती है तब स्मृति आती है, हमने यह क्या किया? फिर बाबा से क्षमा मांगते हैं। बाबा कहते हैं अच्छा बच्चे हर्जा नहीं, फिर नहीं करना। अच्छा हुआ जो भूल बताई। नहीं तो वृद्धि हो जाती। बाबा को लिखते हैं हमने क्रोध किया, काला मुहँ किया। अपना भी तो स्त्री का भी किया। बाबा लिखते हैं बाप का बनकर प्रतिज्ञा कर काला मुहँ किया, ब्राह्मण कुल को कलंक लगाया, सज़ा के अधिकारी बन जायेंगे। ऊंचे ते ऊंचा है ब्राह्मण कुल, देवताओं से भी ऊंचा है। तुम ब्राह्मण भारत को पतित से पावन बनाते हो। तुमने सतयुग त्रेता में 21 जन्म राज्य भाग्य किया तब सुन्दर थे फिर 63 जन्म काम चिता पर बैठ काले हो गये, तब श्याम बने। कहते हैं सागर के बच्चे काम चिता पर बैठ खत्म हो गये। फिर सागर ने ज्ञान वर्षा की तो जाग पड़े। गोरे हो गये। इस कृष्ण की आत्मा को 84 जन्म जरूर लेने हैं। 21जन्म सुन्दर, 63 जन्म श्याम। अब उनकी लात पुरानी दुनिया तरफ है, मुँह नई दुनिया तरफ है। जो नम्बरवन पूज्य था वही पुजारी बन अब लास्ट नम्बर में है। खुद ही पुजारी बन नारायण की पूजा करते थे। अब खुद ही पूज्य नारायण बनते हैं, इनको ही फर्स्ट नम्बर में जाना है। ब्रह्मा का दिन स्वर्ग, ब्रह्मा की रात नर्क। शिवबाबा आते हैं रात को दिन बनाने। अब आधाकल्प की रात पूरी हो, दिन होता है। शिवरात्रि कहते हैं परन्तु शिव के बदले कृष्ण का नाम कह दिया है कि कृष्ण का जन्म रात को हुआ। है शिवबाबा की बात। शिवबाबा की तिथि तारीख वेला का कुछ भी पता नहीं कि किस समय आया। कृष्ण की वेला है। वह पुनर्जन्म में आने वाला है। शिवबाबा तो झट आकर परिचय देने लग पड़ते हैं। कुछ समय तो पता ही नहीं पड़ा कि यह कौन आया है? कौन बोल रहे हैं? बाद में मालूम पड़ा कि यह तो शिवबाबा ज्ञान का सागर है। शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा विष्णुपुरी की स्थापना करते हैं। ब्रह्मा यहाँ है। कृष्णपुरी भी यहाँ है। लक्ष्मी-नारायण के तख्त पिछाड़ी विष्णु का चित्र होता है। परन्तु ज्ञान कुछ भी नहीं। जैसे गवर्मेन्ट का त्रिमूर्ति चित्र है। यह समझने की बात है। बच्चे जास्ती नहीं समझते हैं, भला लौकिक पारलौकिक बाप का कान्ट्रास्ट तो समझते हो ना। याद भी करते हैं हे पतित-पावन, हे रहमदिल, हे दु:ख हर्ता सुख कर्ता। सतयुग में कोई याद नहीं करते। बाप यहाँ ही सब मनोकामना पूरी कर देते हैं। सतयुग में तुमको इतना अथाह धन मिलता है जो वहाँ माथा मारने की दरकार ही नहीं। तुमको श्रीमत पर चलना चाहिए। जो नहीं चलते गोया निधनके हैं, उनको कहा जाता है बगुला। तो हंसों को बगुलों के साथ भी रहना पड़ता है। गृहस्थ व्यवहार में तो रहना ही है इसलिए रिपोर्ट आती है भाई झगड़ा करता, फलाना झगड़ा करता, दुनिया में झगड़ा ही झगड़ा है। पवित्रता पर भी झगड़ा चलता है। खान-पान की परहेज रखनी होती है। तो बहुतों के लिए मुशीबत हो जाती है। बाप कितना समझाते हैं, याद में रहकर भोजन खाओ। डायरेक्शन अमल में नहीं लाते हैं। प्रैक्टिस करनी चाहिए। तुम हो पतित दुनिया को पावन बनाने वाली शक्तियाँ। याद से पाप भस्म हो जाते हैं। मेहनत है बहुत इसलिए कोटों में कोई निकलता है। पुरुषार्थ करते भी फेल हो जाते हैं। आश्चर्यवत बाबा का बनन्ती, बाबा बाबा कहन्ती। फिर भी श्रीमत पर नहीं चलते, तो गिरन्ती, भागन्ती। माया खींचती है तो बाप को फारकती दे देते हैं। कल्प पहले जो हुआ है वही रिपीट होना है, इसमें मेहनत चाहिए। जो श्रीमत पर चलते वही धारणा कर सकते हैं। मम्मा बाबा कहकर फालो नहीं करेंगे तो दुर्गति को पायेंगे अर्थात् कम पद पायेंगे। अनपढ़े, पढ़े के आगे भरी ढोयेंगे। नौकर चाकर बनेंगे। जो ब्राह्मण नहीं बनते वह प्रजा में पाई पैसे का पद पायेंगे। और कोई धर्म स्थापन करने वाला राजाई नहीं स्थापन करते। बेहद का बाप ही भविष्य के लिए राजाई स्थापन करते हैं। पवित्र बनने के लिए पुरुषार्थ करना पड़े। तुम फूल बनते हो, जो विकार में जाते हैं वह काँटे बनते हैं। एक दो को आदि-मध्य-अन्त दु:ख देते हैं। यह है काँटों की दुनिया। अब तुम संगम पर फूल बन रहे हो। सतयुग है फूलों का बगीचा। संगम पर जंगल से बगीचा बनता है। यह है कल्याणकारी संगम अथवा कुम्भ। आत्मा परमात्मा का मिलन होता है। अभी तुम जानते हो हम परमपिता परमात्मा से 21 जन्म का वर्सा ले रहे हैं। राजाई पाने में मज़ा है। बाकी यह कहना कि तकदीर में होगा तो मिलेगा, इससे क्या होगा। बेहद बाप का परिचय देना है। तुम अनुभवी हो, सर्विस तो करनी है। दिल से पूछना है कि हमने कितनों की सर्विस की। ज्ञान है तो सर्विस में लग जाना है। नो ज्ञान तो नो सर्विस, तो नो ऊंच पद। तकदीर में नहीं है तो पुरुषार्थ भी नहीं करते। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे रूहानी सर्विसएबुल बच्चों प्रति रूहानी बाप व दादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप के डायरेक्शन को अमल में लाना है। खान-पान की पूरी परहेज रखनी है। याद में रहकर भोजन खाने का अभ्यास करना है।

2) मात-पिता की तरह सेवा करनी है। अपने बड़ों का रिगार्ड जरूर रखना है। रूहानी सोशल वर्कर बन सबको बाप का परिचय देना है।

वरदान:- सर्वशक्तिमान् के साथ की स्मृति द्वारा सदा सफलता का अनुभव करने वाले कम्बाइन्ड रूपधारी भव 
सर्वशक्तिमान् बाप को अपना साथी बना लो तो शक्तियां सदा साथ रहेंगी। और जहाँ सर्व शक्तियां हैं वहाँ सफलता न हो – यह असम्भव है। लेकिन यदि बाप से कम्बाइन्ड रहने में कमी है, माया कम्बाइन्ड रूप को अलग कर देती है तो सफलता भी कम हो जाती है, मेहनत करने के बाद सफलता होती है। मास्टर सर्वशक्तिमान् के आगे सफलता तो आगे पीछे घूमती है।
स्लोगन:- सबकी दुआयें लेनी हैं तो हाँ जी करते हुए सहयोग का हाथ बढ़ाते चलो।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 13 November 2017 :- Click Here

Font Resize