15 july ki murli

TODAY MURLI 15 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 15 July 2020

15/07/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to become true Vaishnavs. Together with a precautions of a diet, true Vaishnavs also remain pure.
Question: By transforming which weakness into a virtue can your boat go across?
Answer: Attachment is the biggest weakness. Because of attachment, the remembrance of relatives troubles you. (There is the example of a monkey.) When a relative dies, they continue to remember him for 12 months. They cover their faces and continue to weep because they constantly remember him. If you were harassed by remembrance of the Father and remembered Him day and night in the same way, your boat would go across. It would be your great fortune for you to remember the Father in the same way as you remember your physical relatives!

Om shanti. The Father explains to the children every day: Consider yourselves to be souls and sit in remembrance of the Father. Today, Baba is adding to that: Don’t just consider Him to be the Father. You also have to consider Him to be someone else. The main thing is the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. He is also called God, the Father. He is the Ocean of Knowledge too. Because He is the Ocean of Knowledge, He is also the Teacher and teaches Raj Yoga. Only when this is explained can they understand that the true Father is teaching us. He tells us the practical aspect that He is the Father of everyone and also the Teacher and the Bestower of Salvation. Then, He is also called the knowledge-full One. He is the Father, Teacher, Purifier and the Ocean of Knowledge. First of all, praise the Father. He is teaching us. We are Brahma Kumars and Kumaris. Brahma too is a creation of Shiv Baba, and it is now the confluence age. The aim and objective is of Raj Yoga; He is teaching us Raj Yoga. Therefore, this shows that He is also our Teacher and that this study is for the new world. While you are sitting here, make firm the things that you have to explain to others. You have to imbibe this knowledge into yourselves. You know that some are able to imbibe more than others. Here too, the names of those who are clever in knowledge are glorified. Their status also becomes high. Baba continues to show you the precautions you have to observe. You are becoming complete Vaishnavas. Vaishnavas means those who are vegetarian;they don’t eat meat or drink alcohol etc., but they do indulge in vice. In that case what is the use of becoming a Vaishnav? They call themselves the ones who belong to the Vaishnav clan. This means that they don’t eat onions and other tamoguni things etc. You children know what the tamoguni things are. Some people are very good. They are called religious minded or devotees. Sannyasis are called pure souls, and those who give donations etc. are called charitable souls. This proves that it is souls that give donations and performs charity. This is why it is said: A pure soul, a charitable soul. A soul is not immune to the effect of action. You should remember such very good terms. Saddhus are called great souls. It is not said: Great Supreme Soul. Therefore, it is wrong to say that God is omnipresent. They are all souls; there is a soul in every human being. Those who are educated try to prove that there is a soul in trees as well. They say that there is a soul in each of the 8.4 million species. They ask: How could all these things grow if there were no soul in them? The human soul cannot transmigrate into non-sentient things. Such things have been written in the scriptures. For instance, someone was pushed out of Indraprasth and turned to stone. The Father now sits here and explains. He says to the children: Break away from all bodily relations and consider yourselves to be souls. Constantly remember Me alone. You are now completing your 84th birth. You now have to become satopradhan from tamopradhan. The land of sorrow is the impure land. The land of peace and the land of happiness are pure lands. You understand this much, do you not? People bow down to the idols of the deities who resided in the land of happiness. This proves that they were pure souls in the new world of Bharat. They had a high status. Now people sing: I am without virtue, I have no virtues. It truly is like that! They have no virtues at all! Human beings have a lot of attachment; they constantly remember those who have died. It’s in their intellects: “This one was my child”. When someone’s husband or child dies, she continues to remember him. A widow would remember him very well for nearly 12 months. She covers her face and continues to weep all the time. If you were to cover your face and remember the Father day and night in the same way, your boat would go across. The Father says: Just as you continue to remember your husband, remember Me in the same way and your sins will be absolved. The Father shows you different ways of doing this. Continue to check your accounts: Today, there was this much expenditure and this much profit. They calculate their balance every day. Some calculate it every month. It is most essential to do this here. The Father tells you this again and again. He says: You children are one hundred times, a thousand times, a million times, a billion times and multimillion times fortunate. The children who consider themselves to be fortunate would definitely be remembering the Father very well. They will become roses. This has to be explained in a nutshell. You have to become fragrant flowers. The main thing is remembrance. Sannyasis use the term “yoga”. Your physical father wouldn’t say, “Remember me!” He wouldn’t even ask you if you were remembering him. A father remembers his children and his children remember their father all the time; that is the law. You have to be asked that here, because Maya makes you forget. When you come here, you understand that you are coming to the Father. So, there should be remembrance of the Father. This is why Baba has had these pictures created. You should also have these with you. First of all, begin with the praise of the Father: This is our Baba. In fact, He is everyone’s Father. He is the Bestower of Salvation for All, the Ocean of Knowledge and the knowledgefull One. Baba is giving us the knowledge of the beginning, middle and end of the world cycle through which we become trikaldarshi. No human being in this world would be trikaldarshi. The Father says: Even Lakshmi and Narayan wouldn’t be trikaldarshi. Of what use would it be for them to be trikaldarshi? You become this and make others the same. If Lakshmi and Narayan had this knowledge, it would have continued from time immemorial. However, destruction takes place in between. Therefore, it cannot continue from time immemorial. So you children should remember this study very well. Your highest-on-high study takes place at the confluence age. When you don’t stay in remembrance but become body conscious, Maya slaps you. When you have become 16 celestial degrees full, the preparations for destruction will also have been completed. They are making preparations for destruction and you are making preparations to claim your imperishable status. There wasn’t a war between the Kauravas and the Pandavas; the war was between the Kauravas and the Yadavas. Pakistan was created according to the drama. That began after you took birth. Now that the Father has come, everything has to happen in a practical way. It is of here that it is said: Rivers of blood flow everywhere and then there will be rivers of ghee. Even now, look: they continue to fight so much! “Give us this particular city or we will start a war.” “Don’t pass through here. This is our path.” What can they do? How would steamers be able to go across? Then they hold talks. They definitely have to ask others for advice. Whatever hopes they had of receiving help are finished for them. Civil war is fixed in the drama here. The Father now says: Sweet children, become very, very sensible. When you leave here and go back to your homes, you shouldn’t forget. You come here to accumulate an income. When you bring small children here, you remain bound to them. You have come here to the shores of the Ocean of Knowledge. Therefore, the more you earn, the better it is. You should become engrossed in this. You come here to fill your aprons with the imperishable jewels of knowledge. People sing: O Innocent Lord, fill our aprons! Devotees go in front of an image of Shankar and say: Fill our aprons! They consider Shiva and Shankar to be one and the same. They say: Shiv Shankar, Mahadev (the Great Deity). So the Great Deity is to be considered greater. Small things such as this have to be understood very clearly. It is explained to you children: You are Brahmins and you are now receiving this knowledge. Human beings reform themselves by studying. Their activity and behaviour become very good. You are now studying. Those who study the most and teach others have very good manners too. You would say that Mama and Baba have the best manners. This one is the senior mother. Baba enters him and creates you children. The mother and Father are combined. These are such incognito matters! Just as you are studying, Mama too studied. She was then adopted. According to the drama, because she was very wise, she was named Saraswati. The Brahmaputra is the largest river. There is the meeting of the Brahmaputra River with the ocean. This one is the biggest river; therefore, he is also the mother. You sweetest children are uplifted so much! The Father only sees you children. He doesn’t have to remember anyone else. This one’s soul has to remember the Father. The father says: Both of us look at the children. I, the soul, don’t have to see everything as a detached observer. However, I am in the Father’s company. Therefore, I also look at everything in the same way. I stay with the Father after all! I am His child and I look at everything with Him. I become the master of the world and tour around everywhere as though I am doing everything. I give drishti. Everything, including the body, has to be forgotten. It is as though the child and the Father become one. Therefore, the Father explains: Make a lot of effort. Truly, Mama and Baba do the most service. In households too, the mothers and fathers do a lot of service. Those who do service will definitely claim a high status. Therefore, you should follow them. Just as the Father uplifts those who defame Him, so you have to follow the Father in the same way. You have to understand the meaning of that. The Father says: Remember Me and don’t listen to anyone else. When anyone says anything, listen but do not listen! Simply continue to smile and he will automatically cool down. Baba has told you that when someone becomes angry with you, shower flowers on him. Tell him: You are defaming me and I am uplifting you. The Father Himself says: Human beings of the whole world defame Me. They have caused Me so much defamation by saying that I am omnipresent. However, I still uplift everyone. You children are also those who have to uplift everyone. Just think about what you were and what you are going to become. You are becoming the masters of the world. You never even thought or dreamt of this! Many had visions whilst sitting at home. However, nothing happens through visions. The tree will gradually continue to grow. The sapling of the new divine tree is being planted. You children know that your garden of divine flowers is now being created. In the golden age, there will only be deities. That period is going to come again; the cycle continues to turn. You are the ones who will take 84 births. Where would other souls come from? None of the souls that are in the drama can be liberated from their parts. This cycle continues to turn. Souls never diminish; they don’t become bigger or smaller. The Father explains to you sweetest children. He says: Children, become bestowers of happiness. A mother would tell her children not to fight among themselves. The unlimited Father tells you children: The pilgrimage of remembrance is very easy. You have been going on those pilgrimages for birth after birth. In spite of that, you souls have continued to come down the ladder and become sinful. The Father says: This is a spiritual pilgrimage. You don’t have to return to this land of death. People return from those pilgrimages but remain the same as they were before they went. You know that you are going to go to heaven. Heaven used to exist and it will exist again. This cycle has to turn. There is only the one world; there is not another world in the stars etc. People beat their heads so much to go up there to see what is there. While they are beating their heads, death will come to them. All of that is science. What will happen once they reach there? Death is standing ahead. On the one hand, they go up above and do research. On the other hand, they continue to manufacture bombs for death. Look what the intellects of human beings are like! They understand that someone is inspiring them to do all of that. They themselves say that world war will definitely take place. It will be that same Mahabharat War. The more effort you children make, the more you will benefit others. You are children of Khuda, God, anyway. God has made you His children. Therefore, you become gods and goddesses. Lakshmi and Narayan are called a goddess and a god. People believe that Krishna is God. Not as many believe in Radhe. There is praise of Saraswati, but not of Radhe. An urn has been shown on Lakshmi. They have made that mistake as well. They have given Saraswati many names. You are the same ones. You are worshipped as goddesses and you are also worshipped as souls. The Father continues to explain everything to you children. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. The Father uplifts those who defame Him. Therefore, follow the Father! When someone says anything, listen but do not listen. Simply continue to smile. Only listen to the one Father.
  2. Become bestowers of happiness and give happiness to everyone. Don’t fight or quarrel amongst yourselves. Become wise and fill your aprons with the imperishable jewels of knowledge.
Blessing: May you transform your attitude by making a vow of having pure thoughts and thereby become seated on the heart-throne.
BapDada’sheart throne is so pure that only pure souls can be constantly seated on it. Those who have impurity or who do anything against the codes of conduct in their minds go into the descending stage instead of being seated on the throne. So, first of all, transform your attitude by making a vow to have pure thoughts. By transforming your attitude, the world of your future life will change. The instant fruit of making a vow of having pure and determined thoughts is to be seated on BapDada’s heart-throne for all time.
Slogan: When you have all the powers with you, obstacles free success is guaranteed.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 15 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

15-07-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हें सच्चा-सच्चा वैष्णव बनना है, सच्चे वैष्णव भोजन की परहेज के साथ-साथ पवित्र भी रहते हैं”
प्रश्नः- कौन-सा अवगुण गुण में परिवर्तन हो जाए तो बेडा पार हो सकता है?
उत्तर:- सबसे बड़ा अवगुण है मोह। मोह के कारण सम्बन्धियों की याद सताती रहती है। (बन्दरी का मिसाल) किसी का कोई सम्बन्धी मरता है तो 12 मास तक उसे याद करते रहते हैं। मुँह ढक कर रोते रहेंगे, याद आती रहेगी। ऐसे ही अगर बाप की याद सताये, दिन-रात तुम बाप को याद करो तो तुम्हारा बेडा पार हो जायेगा। जैसे लौकिक सम्बन्धी को याद करते ऐसे बाप को याद करो तो अहो सौभाग्य…।

ओम् शान्ति। बाप रोज़-रोज़ बच्चों को समझाते हैं कि अपने को आत्मा समझ बाप की याद में बैठो। आज उसमें एड करते हैं – सिर्फ बाप नहीं दूसरा भी समझना है। मुख्य बात ही यह है – परमपिता परमात्मा शिव, उनको गॉड फादर भी कहते हैं, ज्ञान सागर भी है। ज्ञान सागर होने कारण टीचर भी है, राजयोग सिखलाते हैं। यह समझाने से समझेंगे कि सत्य बाप इन्हों को पढ़ा रहे हैं। प्रैक्टिकल बात यह सुनाते हैं। वह सबका बाप भी है, टीचर भी है, सद्गति दाता भी है और फिर उनको नॉलेजफुल कहा जाता है। बाप, टीचर, पतित-पावन, ज्ञान सागर है। पहले-पहले तो बाप की महिमा करनी चाहिए। वह हमको पढ़ा रहे हैं। हम हैं ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ। ब्रह्मा भी रचना है शिवबाबा की और अभी है भी संगमयुग। एम ऑब्जेक्ट भी राजयोग की है, हमको राजयोग सिखलाते हैं। तो टीचर भी सिद्ध हुआ। और यह पढ़ाई है ही नई दुनिया के लिए। यहाँ बैठे यह पक्का करो – हमको क्या-क्या समझाना है। यह अन्दर धारणा होनी चाहिए। यह तो जानते हैं कोई को जास्ती धारणा होती है, कोई को कम। यहाँ भी जो ज्ञान में जास्ती तीखे जाते हैं उनका नाम होता है। पद भी ऊंचा होता है। परहेज भी बाबा बतलाते रहते हैं। तुम पूरे वैष्णव बनते हो। वैष्णव अर्थात् जो वेजीटेरियन होते हैं। मास मदिरा आदि नहीं खाते हैं। परन्तु विकार में तो जाते हैं, बाकी वैष्णव बना तो क्या हुआ। वैष्णव कुल के कहलाते हैं अर्थात् प्याज़ आदि तमोगुणी चीज़ें नहीं खाते हैं। तुम बच्चे जानते हो – तमोगुणी चीजें क्या-क्या होती हैं। कोई अच्छे मनुष्य भी होते हैं, जिसको रिलीजस माइन्डेड वा भक्त कहा जाता है। सन्यासियों को कहेंगे पवित्र आत्मा और जो दान आदि करते हैं उनको कहेंगे पुण्य आत्मा। इससे भी सिद्ध होता है – आत्मा ही दान-पुण्य करती है इसलिए पुण्य आत्मा, पवित्र आत्मा कहा जाता है। आत्मा कोई निर्लेप नहीं है। ऐसे अच्छे-अच्छे अक्षर याद करने चाहिए। साधुओं को भी महान् आत्मा कहते हैं। महान् परमात्मा नहीं कहा जाता है। तो सर्वव्यापी कहना रांग है। सर्व आत्मायें हैं, जो भी हैं सबमें आत्मा है। पढ़े लिखे जो हैं वह सिद्ध कर बतलाते हैं झाड़ में भी आत्मा है। कहते हैं 84 लाख योनियां जो हैं उनमें भी आत्मा है। आत्मा न होती तो वृद्धि को कैसे पाती! मनुष्य की जो आत्मा है वह तो जड़ में जा नहीं सकती। शास्त्रों में ऐसी-ऐसी बातें लिख दी हैं। इन्द्रप्रस्थ से धक्का दिया तो पत्थर बन गया। अब बाप बैठ समझाते हैं, बाप बच्चों को कहते हैं देह के सम्बन्ध तोड़ अपने को आत्मा समझो। मामेकम् याद करो। बस तुम्हारे 84 जन्म अब पूरे हुए। अब तमोप्रधान से सतोप्रधान बनना है। दु:खधाम है अपवित्र धाम। शान्तिधाम और सुखधाम है पवित्र धाम। यह तो समझते हो ना। सुखधाम में रहने वाले देवताओं के आगे माथा टेकते हैं। सिद्ध होता है भारत में नई दुनिया में पवित्र आत्मायें थी, ऊंच पद वाले थे। अभी तो गाते हैं मुझ निर्गुण हारे में कोई गुण नाही। है भी ऐसे। कोई गुण नहीं हैं। मनुष्यों में मोह भी बहुत होता है, मरे हुए की भी याद रहती है। बुद्धि में आता है यह मेरे बच्चे हैं। पति अथवा बच्चा मरे तो उनको याद करते रहते। स्त्री 12 मास तक तो अच्छी रीति याद करती है, मुँह ढक कर रोती रहती है। ऐसे मुँह ढक कर अगर तुम बाप को याद करो दिन-रात तो बेडा ही पार हो जाए। बाप कहते हैं – जैसे पति को तुम याद करती रहती हो ऐसे मेरे को याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश हो जाएं। बाप युक्तियां बतलाते हैं ऐसे-ऐसे करो।

पोतामेल देखते हैं आज इतना खर्चा हुआ, इतना फायदा हुआ, बैलेन्स रोज़ निकालते हैं। कोई मास-मास निकालते हैं। यहाँ तो यह बहुत जरूरी है, बाप ने बार-बार समझाया है। बाप कहते हैं तुम बच्चे सौभाग्य-शाली, हजार भाग्यशाली, करोड़ भाग्यशाली, पदम, अरब, खरब भाग्यशाली हो। जो बच्चे अपने को सौभाग्यशाली समझते हैं, वह जरूर अच्छी तरह से बाप को याद करते रहेंगे। वही गुलाब के फूल बनेंगे। यह तो नटशेल में समझाना होता है। बनना तो खुशबूदार फूल है। मुख्य है याद की बात। सन्यासियों ने योग अक्षर कह दिया है। लौकिक बाप ऐसे नहीं कहेंगे कि मुझे याद करो या पूछे कि मुझे याद करते हो? बाप बच्चे को, बच्चा बाप को याद है ही। यह तो लॉ है। यहाँ पूछना पड़ता है क्योंकि माया भुला देती है। यहाँ आते हैं, समझते हैं हम बाप के पास जाते हैं तो बाप की याद रहनी चाहिए इसलिए बाबा चित्र भी बनाते हैं तो वह भी साथ में हो। पहले-पहले हमेशा बाप की महिमा शुरू करो। यह हमारा बाबा है, यूँ तो सबका बाप है। सर्व का सद्गति दाता, ज्ञान का सागर नॉलेजफुल है। बाबा हमको सृष्टि चक्र के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान देते हैं, जिससे हम त्रिकालदर्शी बन जाते हैं। त्रिकालदर्शी इस सृष्टि पर कोई मनुष्य हो नहीं सकता। बाप कहते हैं यह लक्ष्मी-नारायण भी त्रिकालदर्शी नहीं हैं। यह त्रिकालदर्शी बन क्या करेंगे! तुम बनते हो और बनाते हो। इन लक्ष्मी-नारायण में ज्ञान होता तो परम्परा चलता। बीच में तो विनाश हो जाता है इसलिए परम्परा तो चल न सके। तो बच्चों को इस पढ़ाई का अच्छी रीति सिमरण करना है। तुम्हारी भी ऊंच ते ऊंच पढ़ाई संगम पर ही होती है। तुम याद नहीं करते हो, देह-अभिमान में आ जाते हो तो माया थप्पड़ मार देती है। 16 कला सम्पूर्ण बनेंगे तब विनाश की भी तैयारी होगी। वह विनाश के लिए और तुम अविनाशी पद के लिए तैयारी कर रहे हो। कौरव और पाण्डवों की लड़ाई हुई नहीं, कौरवों और यादवों की लगती है। ड्रामा अनुसार पाकिस्तान भी हो गया। वह भी शुरू तब हुआ जब तुम्हारा जन्म हुआ। अब बाप आये हैं तो सब प्रैक्टिकल होना चाहिए ना। यहाँ के लिए ही कहते हैं रक्त की नदियाँ बहती हैं तब फिर घी की नदी बहेगी। अब भी देखो लड़ते रहते हैं। फलाना शहर दो नहीं तो लड़ाई करेंगे। यहाँ से पास न करो, यह हमारा रास्ता है। अब वह क्या करें। स्टीमर कैसे जायेंगे! फिर राय करते हैं। जरूर राय पूछते होंगे। मदद की उम्मीद मिली होगी, वह आपस में ही खत्म कर देंगे। यहाँ फिर सिविलवार की ड्रामा में नूँध है।

अभी बाप कहते हैं – मीठे बच्चे, बहुत-बहुत समझदार बनो। यहाँ से बाहर घर में जाने से फिर भूल नहीं जाओ। यहाँ तुम आते हो कमाई जमा करने। छोटे-छोटे बच्चों को ले आते हो तो उनके बन्धन में रहना पड़ता है। यहाँ तो ज्ञान सागर के कण्ठे पर आते हो, जितनी कमाई करेंगे उतना अच्छा है। इसमें लग जाना चाहिए। तुम आते ही हो अविनाशी ज्ञान रत्नों की झोली भरने। गाते भी हैं ना भोलानाथ भर दे झोली। भक्त तो शंकर के आगे जाकर कहते हैं झोली भर दो। वह फिर शिव-शंकर को एक समझ लेते हैं। शिव-शंकर महादेव कह देते हैं। तो महादेव बड़ा हो जाता। ऐसी छोटी-छोटी बातें बहुत समझने की हैं।

तुम बच्चों को समझाया जाता है – अभी तुम ब्राह्मण हो, नॉलेज मिल रही है। पढ़ाई से मनुष्य सुधरते हैं। चाल-चलन भी अच्छी होती है। अभी तुम पढ़ते हो। जो सबसे जास्ती पढ़ते और पढ़ाते हैं, उनके मैनर्स भी अच्छे होते हैं। तुम कहेंगे सबसे अच्छे मम्मा-बाबा के मैनर्स हैं। यह फिर हो गई बड़ी मम्मा, जिसमें प्रवेश कर बच्चों को रचते हैं। मात-पिता कम्बाइन्ड हैं। कितनी गुप्त बातें हैं। जैसे तुम पढ़ते हो वैसे मम्मा भी पढ़ती थी। उनको एडाप्ट किया। सयानी थी तो ड्रामा अनुसार सरस्वती नाम पड़ा। ब्रह्मपुत्रा बड़ी नदी है। मेला भी लगता है सागर और ब्रह्मपुत्रा का। यह बड़ी नदी ठहरी तो माँ भी ठहरी ना। तुम मीठे-मीठे बच्चों को कितना ऊंच ले जाते हैं। बाप तुम बच्चों को ही देखते हैं। उनको तो किसी को याद करना नहीं है। इनकी आत्मा को तो बाप को याद करना है। बाप कहते हैं हम दोनों, बच्चों को देखते हैं। मुझ आत्मा को तो साक्षी हो नहीं देखना है, परन्तु बाप के संग में हम भी ऐसे देखता हूँ। बाप के साथ रहता तो हूँ ना। उनका बच्चा हूँ तो साथ में देखता हूँ। मैं विश्व का मालिक बन घूमता हूँ, जैसेकि मैं ही यह करता हूँ। मैं दृष्टि देता हूँ। देह सहित सब कुछ भूलना होता है। बाकी बच्चा और बाप जैसे एक हो जाते हैं। तो बाप समझाते हैं खूब पुरूषार्थ करो। बरोबर मम्मा-बाबा सबसे जास्ती सर्विस करते हैं। घर में भी माँ-बाप बहुत सर्विस करते हैं ना। सर्विस करने वाले जरूर पद भी ऊंच पायेंगे तो फिर फालो करना चाहिए ना। जैसे बाप अपकारियों पर भी उपकार करते हैं, ऐसे तुम भी फालो फादर करो। इसका भी अर्थ समझना है। बाप कहते हैं मुझे याद करो और किसका भी नहीं सुनो। कोई कुछ बोले, सुना-अनसुना कर दो। तुम मुस्कराते रहो तो वह आपेही ठण्डा हो जायेगा। बाबा ने कहा था कोई क्रोध करे तो तुम उन पर फूल चढ़ाओ, बोलो तुम अपकार करते हो, हम उपकार करते हैं। बाप खुद कहते हैं सारी दुनिया के मनुष्य मेरे अपकारी हैं, मुझे सर्वव्यापी कहकर कितनी गाली देते हैं मैं तो सबका उपकारी हूँ। तुम बच्चे भी सबका उपकार करने वाले हो। तुम ख्याल करो – हम क्या थे, अभी क्या बनते हैं! विश्व के मालिक बनते हैं। ख्याल-ख्वाब में भी नहीं था। बहुतों को घर बैठे साक्षात्कार हुआ है। परन्तु साक्षात्कार से कुछ होता थोड़ेही है। आहिस्ते-आहिस्ते झाड़ वृद्धि को पाता रहेगा। यह नया दैवी झाड़ स्थापन हो रहा है ना। बच्चे जानते हैं हमारा दैवी फूलों का बगीचा बन रहा है। सतयुग में देवतायें ही रहते हैं सो फिर आने हैं, चक्र फिरता रहता है। 84 जन्म भी वही लेंगे। दूसरी आत्मायें फिर कहाँ से आयेंगी। ड्रामा में जो भी आत्मायें हैं, कोई भी पार्ट से छूट नहीं सकती। यह चक्र फिरता ही रहता है। आत्मा कभी घटती नहीं। छोटी-बड़ी नहीं होती है।

बाप बैठ मीठे बच्चों को समझाते हैं, कहते हैं बच्चे सुखदाई बनो। माँ कहती है ना – आपस में लड़ो-झगड़ो नहीं। बेहद का बाप भी बच्चों को कहते हैं याद की यात्रा बहुत सहज है। वह यात्रा तो जन्म-जन्मान्तर करते आये हो फिर भी सीढ़ी नीचे उतरते पाप आत्मा बनते जाते हो। बाप कहते हैं यह है रूहानी यात्रा। तुमको इस मृत्युलोक में लौटना नहीं है। उस यात्रा से तो लौटकर आते हैं फिर वैसे के वैसे बन जाते हैं। तुम तो जानते हो हम स्वर्ग में जाते हैं। स्वर्ग था फिर होगा। यह चक्र फिरना है। दुनिया एक ही है बाकी स्टार्स आदि में कोई दुनिया है नहीं। ऊपर जाकर देखने के लिए कितना माथा मारते रहते हैं। माथा मारते-मारते मौत सामने आ जायेगा। यह सब है साइंस। ऊपर जायेंगे फिर क्या होगा। मौत तो सामने खड़ा है। एक तरफ ऊपर जाकर खोज करते हैं। दूसरे तरफ मौत के लिए बॉम्ब्स बना रहे हैं। मनुष्यों की बुद्धि देखो कैसी है। समझते भी हैं कोई प्रेरक है। खुद कहते हैं वर्ल्ड वार जरूर होनी है। यह वही महाभारत लड़ाई है। अब तुम बच्चे भी जितना पुरूषार्थ करेंगे, उतना ही कल्याण करेंगे। खुदा के बच्चे तो हो ही। भगवान अपना बच्चा बनाते हैं तो तुम भगवान-भगवती बन जाते हो। लक्ष्मी-नारायण को गॉड गॉडेज कहते हैं ना। कृष्ण को गॉड मानते हैं, राधे को इतना नहीं। सरस्वती का नाम है, राधे का नाम नहीं है। कलष फिर लक्ष्मी को दिखाते हैं। यह भी भूल कर दी है। सरस्वती के भी अनेक नाम रख दिये हैं। वह तो तुम ही हो। देवियों की भी पूजा होती है तो आत्माओं की पूजा होती है। बाप बच्चों को हर बात समझाते रहते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जैसे बाप अपकारी पर भी उपकार करते हैं, ऐसे फालो फादर करना है। कोई कुछ बोले तो सुना अनसुना कर देना है, मुस्कराते रहना है। एक बाप से ही सुनना है।

2) सुखदाई बन सबको सुख देना है, आपस में लड़ना-झगड़ना नहीं है। समझदार बन अपनी झोली अविनाशी ज्ञान रत्नों से भरपूर करनी है।

वरदान:- शुद्ध संकल्प के व्रत द्वारा वृत्ति का परिवर्तन करने वाले दिलतख्तनशीन भव
बापदादा का दिलतख्त इतना प्योर है जो इस तख्त पर सदा प्योर आत्मायें ही बैठ सकती हैं। जिनके संकल्प में भी अपवित्रता या अमर्यादा आ जाती है वो तख्तनशीन के बजाए गिरती कला में नीचे आ जाते हैं इसलिए पहले शुद्ध संकल्प के व्रत द्वारा अपनी वृत्ति का परिवर्तन करो। वृत्ति परिवर्तन से भविष्य जीवन रूपी सृष्टि बदल जायेगी। शुद्ध संकल्प व दृढ़ संकल्प के व्रत का प्रत्यक्षफल है ही सदाकाल के लिए बापदादा का दिलतख्त।
स्लोगन:- तन और मन को अमानत समझकर चलेंगे तो अनासक्‍त रहेंगे और रूहानियत आयेगी।

TODAY MURLI 15 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 15 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 14 July 2019:- Click Here

15/07/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, Baba has come to give you the jewels of knowledge, to speak the murli. This is why you must never miss a murli. If you do not love the murli, it means you do not love the Father.
Question: What is the best character of all which you imbibe through this knowledge?
Answer: To become viceless is to have the best character of all. You have received the knowledge that this whole world is vicious. To be vicious means to be characterless. The Father has come to establish the viceless world. Deities have viceless characters. Your characterare reformed by having remembrance of the Father.

Om shanti. Children, you must never miss this study. If you miss this study, you will also miss your status. Where are you sweetest, spiritual children sitting? In the Godly Spiritual University. You children are aware that you are admitted to this university every 5000 years. You children also know that the Father is your Father, your Teacher and your Guru. In fact, the picture of a guru is separate, a father’s picture is separate and a teacher’s is also separate. There is only one image of that One but, in fact, it includes all three; that is, He becomes the Father, the Teacher and the Guru. These are the three main relationships in the lifeof a human being. That Father, Teacher and Guru are one and the same. He Himself plays all three parts. You children should have a great deal of happiness while understanding each aspect, and you should all bring many others here and have them admitted to this Trimurti University. Those who study at a university where a good education is given would recommend it to others: Come and study in this university. You will receive good knowledge here and your character will also be reformed. You children also have to bring others here. You mothers have to explain to other mothers and the men can explain to men. Just see, that One is the Father, the Teacher and the Guru. Each of you should ask your heart whether you explain in this way or not. Do you sometimes explain to your friends and relations that that One is the Supreme Father, the Supreme Teacher and the Supreme Guru? The Father is the One who makes you into supreme deities. The Father does not make you into the Father, as He is, but He makes you similar to Himself in praise. It is a father’s job to give sustenance and love, and so you definitely have to remember such a Father. He cannot be compared to anyone else. Although it is said that you receive peace from a guru, that One makes you into the masters of the world. No one else can say that he is the Father of all souls. No one knows who the Father of all souls can be. There is only the one unlimited Father whom all Hindus, Muslims and Christians etc. refer to as God, the Father. The intellect definitely goes towards the incorporeal One. Who said this? The soul said: God, the Father. Therefore, souls must surely meet Him. If you simply call Him your Father but have not met Him, then how could He be your Father? He fulfils the desires of the children of the whole world. Everyone desires to go to the land of peace. Souls remember their home. Souls have become tired in the kingdom of Ravan. In English, too, it is said: O God, the Fatherliberate us! Having become tamopradhan while playing their parts, everyone will return to the land of peace. First, you come down into the land of happiness. It is not that when you first come, you become vicious; no. The Father explains: This is a brothel, the kingdom of Ravan. This is called the very depths of hell. There are so many scriptures in this world, particularly in Bharat. There are so many books of studies. All of them are going to be destroyed. The gifts that the Father gives you can never be burnt. They are for imbibing. Things that are of no use are burnt. Knowledge is not a scripture that can be burnt. You receive knowledge through which you claim a status for 21 births. It is not that scriptures belonging to that One are burnt away; no, this knowledge will automatically disappear. This knowledge is not in any books that need to be studied. There is the name: Gyan Vigyan Bhavan, but they don’t know why that name has been given or what the meaning of it is. There is great praise of gyan vigyan. Gyan means the knowledge of the world cycle that you are now imbibing. Vigyan means the land of silence; you go even beyond the stage of gyan. You rule a kingdom again on the basis of the study of knowledge. You understand that the Father of souls comes and teaches us. Otherwise, the versions of God vanish. God does not come after having studied the scriptures. God has both gyan and vigyan. Whatever someone is, he would make others similar to himself. This is a very subtle matter. Vigyan is more subtle than gyan. You have to go even beyond gyan. Knowledge is gross; noise is made when teaching it. Vigyan, in which you go beyond sound into silence, is subtle. It is this silence that you have been wandering around for. People go to sannyasis for peace. However, that which belongs to the Father cannot be given by anyone else. People do hatha yoga and sit in a ditch, but they cannot receive peace through that. Here, there is no question of any difficulty. This study is very easy. You are given the seven days’ course. Having done the seven days’ course, you can go anywhere. This cannot be done in worldly colleges. Your course is seven days. Everything is explained to you in this course, but not everyone has seven days to give. Their intellects’ yoga is drawn elsewhere. When you were in the bhatthi, you did not see anyone’s face. You did not speak to anyone; you did not even go outside. You used to go and sit in remembrance on the seashore to do tapasya. At that time, you did not understand the cycle. You did not understand this study. First of all, you need to have yoga with Baba. You need to have the Father’s introduction and after that you need the Teacher. Firstly, you have to learn how to have yoga with the Father because He is bodiless. Others do not accept this. They say: God, the Father, is omnipresent. The notion of omnipresence has continued. This aspect is not in your intellects now. You are students. The Father says: By all means, do your business etc, but you must definitely come to class. You may stay at home with your family. If you say that you don’t want to go to school, then what can the Father do? Ah! God is teaching you to make you into gods and goddesses. God speaks: I make you into the kings of kings. So, will you not study Raja Yoga from God? Who would not want to do this? It was why you had to run away from your homes in order to be saved from vice. You came and stayed in that bhatthi where no one could see you or where no one could meet you. You did not see anyone for your heart to be drawn to. Although some children have the faith that God is teaching them, they still make excuses that they are sick or that they have something to do. The Father can provide many shifts. Nowadays, they have many shifts in schools. Here, there isn’t a great deal to study. You simply need a good intellect to understand Alpha and beta. Remember Alpha and beta and tell everyone else about it. People create many images of the Trimurti, but they don’t show Shiv Baba at the top. They do not understand that the God of the Gita is Shiva, from whom this one takes knowledge and becomes Vishnu. This is Raja Yoga. This is now the last of his many births. This explanation is very easy. You do not hold any books etc. in your hand. You simply wear a badge which only shows the image of the Trimurti. You have to explain with that how the Father is teaching you through Brahma and making you similar to Vishnu. Some think that they want to become like Radhe. The urn of nectar has been given to the mothers. In fact, Radhe receives the urn of nectar at the end of her many births. It is the Father who explains this secret. No other human beings know this. So many come to you at the centres. Some come for one day and then don’t come for four days. Therefore, you should ask them: What have you been doing all that time? Were you remembering the Father? Were you spinning the discus of self-realisation? You should write and ask this of those who haven’t been for a long time. Some are transferred in their job and have to go away. However, they have to belong to a centre. They have been given the mantra: Remember the Father and spin the cycle. The Father has explained a very easy thing. There are only two words: Manmanabhav; remember Me and remember your inheritance. The whole cycle is included in this. When someone leaves his body, they say that he has gone to heaven, but, what is heaven? No one knows. You now understand that it is a kingdom there and that from the very highest to the very lowest, from the wealthy to the poor, everyone is happy. Here, it is the world of sorrow. That is the world of happiness. The Father explains very clearly. Even if someone is a shopkeeper, no matter who they are, it is not good to make excuses for not studying. If they don’t come, you can ask them: How much do you remember the Father? Have you been spinning the discus of self-realisation? Eat, drink and tour around; there is no objection to that, but make time for this too. You also have to bring benefit to others. For instance, if someone is employed cleaning clothes, many come to him. Whether they are Muslims, Parsees or Hindus, tell them: You are having your physical clothes washed, but that body of yours is an old, dirty costume. The soul is also tamopradhan. You have to make it satopradhan, clean. This entire world is impure, old, iron aged and tamopradhan. You have the aim of changing from tamopradhan to satopradhan. Now, whether you want to do this or not, whether you want to understand this or not, it is up to you. You are souls. Souls definitely have to become pure. You have now become impure. Souls and bodies both have become dirty. In order to have them cleaned, remember the Father and it is guaranteed that you souls will become 100% pure gold and the ornaments (bodies) will also become beautiful. Whether you believe this or not is up to you. This too is service. Go to doctors, go to colleges, go to eminent people and explain to them that their characters have to be very good. Here, all are characterless. The Father says: You have to become viceless. The viceless world used to exist. It is now vicious; it is characterless. Everyone’s character has become very bad. You cannot reform yourself without becoming viceless. Here, human beings are lustful. Only the one Father establishes the viceless world from the vicious world. The old world will be destroyed. This is a cycle. The explanation of the globe is very good. When the deities ruled, this world was viceless. Where have they now gone? Souls are never destroyed; each one renounces a body and takes another. Deities have taken 84 births. You have now become sensible. Previously, you did not know anything. This old world is now very dirty. You feelthat what Baba says is absolutely accurate. There, it is the pure world. Because this world is not pure, they have called themselves Hindus instead of deities. Those who live in Hindustan are called Hindus, whereas deities live in heaven. You have now understood this cycle. Those of you who are sensible understand very clearly that you have to sit and repeat everything in the way that the Father explains. Continue to note down the main words and then relate them to others and say that the Father mentioned this and that point. Tell them: I am telling you the knowledge of the Gita. This is the age of the Gita. Everyone knows that there are four ages. This is the leap age. No one knows about this confluence age. You now understand that this is the most auspicious confluence age. People celebrate the birth of Shiva, but no one knows when He came or what He did. After the birth of Shiva is celebrated, there is the celebration of the birth of Krishna. Then comes the celebration of the birth of Rama. No one celebrates the birth of Jagadamba or Jagadpita. Everyone comes numberwise. You have now received the entire knowledge. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Our Father is the Supreme Father, the Supreme Teacher and the Supreme Satguru. Tell everyone this aspect. Teach everyone the lesson of Alpha and beta.
  2. Gyan means to imbibe the knowledge of the world cycle and to become a spinner of the discus of self-realisation. Vigyan means to go beyond sound into silence. Take the seven days’ course and continue to study this wherever you live.
Blessing: May you be a most auspicious and elevated soul who gains victory over any adverse situation that comes from nature.
Brahmin souls are most auspicious and elevated souls and nature is the servant of auspicious and elevated souls. Nature cannot influence auspicious elevated souls. So check: Does any upheaval of nature attract you to itself? Does nature influence you with facilities and salvation? Facilities automatically come to yogi souls and to souls who experiment due to their spiritual endeavour. The facilities are not a basis for their spiritual endeavour, but it is spiritual endeavour that makes the facilities their support.
Slogan: The meaning of knowledge is to have experience and make others experienced.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 15 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 July 2019

To Read Murli 14 July 2019 :- Click Here
15-07-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाबा आया है तुम्हें ज्ञान रत्न देने, मुरली सुनाने, इसलिए तुम्हें कभी भी मुरली मिस नहीं करनी है, मुरली से प्यार नहीं तो बाप से प्यार नहींˮ
प्रश्नः- सबसे अच्छा कैरेक्टर कौन-सा है, जो तुम इस नॉलेज से धारण करते हो?
उत्तर:- वाइसलेस बनना यह सबसे अच्छा कैरेक्टर है। तुम्हें नॉलेज मिलती है कि यह सारी दुनिया विशश है, विशश माना ही कैरेक्टरलेस। बाप आया है वाइसलेस वर्ल्ड स्थापन करने। वाइसलेस देवतायें कैरेक्टर वाले हैं। कैरेक्टर सुधरते हैं बाप की याद से।

ओम् शान्ति। बच्चे तुम्हें पढ़ाई कभी मिस नहीं करना है। अगर पढ़ाई मिस की तो पद से भी मिस हो जायेंगे। मीठे-मीठे रूहानी बच्चे कहाँ बैठे हैं? गॉडली स्प्रीचुअल युनिवर्सिटी में। बच्चों को यह भी पता है कि हर 5 हज़ार वर्ष बाद हम इस युनिवर्सिटी में दाखिल होते हैं। यह भी तुम बच्चे जानते हो – बाप, बाप भी है, टीचर भी है, गुरू भी है। वैसे गुरू की मूर्ति अलग, बाप की अलग, टीचर की अलग होती है। यह मूर्ति एक ही है। परन्तु हैं तीनों ही अर्थात् बाप भी बनते हैं, टीचर भी बनते हैं, गुरू भी बनते हैं। मनुष्य की लाइफ में यह 3 मुख्य हैं। बाप, टीचर, गुरू वही है। तीनों पार्ट खुद बजाते हैं। एक-एक बात समझने से तुम बच्चों को बहुत खुशी होनी चाहिए और ऐसी त्रिमूर्ति युनिवर्सिटी में बहुतों को ले आकर दाखिल करना चाहिए। जिस-जिस युनिवर्सिटी में पढ़ाई अच्छी होती है तो वहाँ पढ़ने वाले दूसरों को कहते हैं – इस युनिवर्सिटी में पढ़ो, यहाँ नॉलेज अच्छी मिलती है और कैरेक्टर्स भी सुधरते हैं। तुम बच्चों को भी दूसरों को ले आना है। मातायें माताओं को, पुरूष पुरूषों को समझायें। देखो यह बाप भी है, टीचर भी है, गुरू भी है। ऐसे समझाते हैं वा नहीं, वह तो हर एक अपनी दिल से पूछे। कभी अपने मित्र सम्बन्धियों, सखियों को समझाते हैं कि यह सुप्रीम बाप भी है, सुप्रीम टीचर भी है, सुप्रीम गुरू भी है? बाप सुप्रीम देवी-देवता बनाने वाला है, बाप आप समान बाप नहीं बनाते। बाकी उनकी जो महिमा है, उसमें आपसमान बनाते हैं। बाप का काम है परवरिश करना और प्यार करना। ऐसे बाप को जरूर याद करना है। उनकी भेंट और कोई से हो न सके। भल कहते हैं गुरू से शान्ति मिलती है। परन्तु यह तो विश्व का मालिक बनाते हैं। ऐसे भी कोई नहीं कहेंगे कि हम सब आत्माओं का बाप हूँ। यह किसको पता नहीं है कि सभी आत्माओं का बाप कौन हो सकता है। एक बेहद का बाप, जिसे हिन्दू, मुसलमान, क्रिश्चियन आदि सब गॉड फादर जरूर कहते हैं। बुद्धि जरूर निराकार तरफ जाती है। यह किसने कहा? आत्मा ने कहा गॉड फादर। तो जरूर मिलना चाहिए। फादर सिर्फ कहे और कभी मिले ही नहीं तो वह फादर कैसे हो सकता? सारी दुनिया के बच्चों की जो आश है वह पूर्ण करते हैं। सबकी कामना रहती है कि हम शान्तिधाम जायें। आत्मा को घर याद पड़ता है। आत्मा रावण राज्य में थक गई है। अंग्रेजी में भी कहते हैं ओ गॉड फादर, लिबरेट करो। तमोप्रधान बनते-बनते पार्ट बजाते-बजाते शान्तिधाम चले जायेंगे। फिर पहले सुखधाम में आते हैं। ऐसे नहीं, पहले-पहले आकर विशश बनते हैं। नहीं। बाप समझाते हैं यह है वेश्यालय, रावण राज्य। इसे रौरव नर्क कहा जाता है।

भारत में वा इस दुनिया में कितने शास्त्र, कितनी पढ़ाई की पुस्तके हैं, यह सब खत्म हो जायेंगे। बाप तुमको यह जो सौगात देते हैं, वह कभी जलने वाली नहीं है। यह है धारण करने की। जो काम की चीज़ नहीं होती उसको जलाया जाता है। ज्ञान कोई शास्त्र नहीं जो जलाया जाए। तुमको नॉलेज मिलती है, जिससे तुम 21 जन्म पद पाते हो। ऐसे नहीं कि इनके शास्त्र हैं जो जला देंगे। नहीं, यह ज्ञान आपेही प्राय:लोप हो जाता है। कोई पढ़ने की किताब आदि नहीं है। ज्ञान-विज्ञान भवन नाम भी है। परन्तु उनको पता नहीं कि यह नाम क्यों पड़ा है, इसका अर्थ क्या है? ज्ञान-विज्ञान की महिमा कितनी भारी है! ज्ञान अर्थात् सृष्टि चक्र की नॉलेज जो अभी तुम धारण करते हो। विज्ञान माना शान्तिधाम। ज्ञान से भी तुम परे जाते हो। ज्ञान में पढ़ाई के आधार से फिर तुम राज्य करते हो। तुम समझते हो हम आत्माओं को बाप आकर पढ़ाते हैं। नहीं तो भगवानुवाच गुम हो जाए। भगवान् कोई शास्त्र थोड़ेही पढ़कर आते हैं। भगवान् में तो ज्ञान-विज्ञान दोनों हैं। जो जैसा होता है, वैसा बनाते हैं। यह हैं बहुत सूक्ष्म बातें। ज्ञान से विज्ञान बहुत सूक्ष्म है। ज्ञान से भी परे जाना है। ज्ञान स्थूल है, हम पढ़ाते हैं, आवाज़ होता है ना। विज्ञान सूक्ष्म है इसमें आवाज़ से परे शान्ति में जाना होता है। जिस शान्ति के लिए ही भटकते हैं। सन्यासियों के पास जाते हैं। परन्तु जो चीज़ बाप के पास है वह दूसरे कोई से मिल नहीं सकती है। हठयोग करते, खड्डे में बैठ जाते परन्तु इससे कोई शान्ति मिल न सके, यहाँ तो तकल़ीफ की कोई बात नहीं। पढ़ाई भी बहुत सहज है। 7 रोज़ का कोर्स उठाया जाता है। 7 रोज़ का कोर्स करके फिर भल कहाँ भी बाहर चला जाए, ऐसे और कोई जिस्मानी कालेज में कर न सके। तुम्हारे लिए कोर्स ही यह 7 रोज़ का है। सब समझाया जाता है। परन्तु 7 रोज़ कोई दे न सके। बुद्धियोग कहाँ न कहाँ चला जाता है। तुम तो भट्ठी में पड़े, कोई की शक्ल नही देखते थे। कोई से बात नहीं करते थे। बाहर भी नहीं निकलते थे। तपस्या के लिए सागर के कण्ठे पर जाकर बैठते थे याद में। उस समय यह चक्र नहीं समझा था। यह पढ़ाई नहीं समझते थे। पहले-पहले तो बाबा से योग चाहिए। बाप का परिचय चाहिए। फिर पीछे टीचर चाहिए। पहले तो बाप के साथ योग कैसे लगायें, यह भी सीखना पड़े क्योंकि यह बाप है अशरीरी, दूसरे तो कोई मानते ही नहीं। कहते हैं गॉड फादर ओमनी प्रेजन्ट है। बस सर्वव्यापी का ज्ञान ही चला आता है। अभी तुम्हारी बुद्धि में वह बात नहीं है। तुम तो स्टूडेन्ट हो। बाप कहते हैं अपना धन्धा आदि भी भल करो परन्तु क्लास जरूर पढ़ो। गृहस्थ व्यवहार में भल रहो। अगर कहते स्कूल में नहीं जाना है तो फिर बाप भी क्या करे। अरे, भगवान् पढ़ाते हैं, भगवान् भगवती बनाने! भगवानुवाच – मैं तुमको राजाओं का राजा बनाता हूँ। तो क्या भगवान् से राजयोग नहीं सीखेंगे? ऐसे कौन ठहर सकेंगे! इसलिए ही तुम्हारा भागना हुआ। विष से बचने के लिए भागे। तुम आकर भट्ठी में पड़े, जो कोई देख न सके, मिल न सके। कोई को देखते ही नहीं थे। तो फिर दिल किससे लगायें। यह बच्चों को निश्चय भी है कि भगवान् पढ़ाते हैं। फिर भी बहाना करते हैं, बीमारी है, यह काम है। बाप तो बहुत शिफ्ट दे सकते हैं। आजकल स्कूल में शिफ्ट बहुत देते हैं। यहाँ कोई जास्ती पढ़ाई तो है नहीं। सिर्फ अल्फ और बे को समझने लिए बुद्धि अच्छी चाहिए। अल्फ और बे – यह याद करो, सभी को बताओ। त्रिमूर्ति तो बहुत बनाते हैं परन्तु ऊपर में शिवबाबा दिखलाते नहीं। यह थोड़ेही समझते हैं गीता का भगवान् शिव है, जिस द्वारा यह नॉलेज लेकर विष्णु बनते हैं। राजयोग है ना। अभी यह है बहुत जन्मों के अन्त का जन्म, कितनी सहज समझानी है। किताब आदि तो कुछ भी हाथ में नहीं है। सिर्फ एक बैज हो, उसमें भी सिर्फ त्रिमूर्ति का चित्र हो। जिस पर समझाना है कि बाप कैसे ब्रह्मा द्वारा पढ़ाई पढ़ाकर विष्णु समान बनाते हैं।

कई समझते हैं हम राधे जैसा बनें। कलष तो माताओं को मिलता है। गोया राधे के बहुत जन्मों के अन्त में उनको कलष मिलता है। यह राज़ भी बाप ही समझा सकते हैं और कोई मनुष्य मात्र जानते नहीं। तुम्हारे पास सेन्टर पर कितने आते हैं। कोई तो एक रोज़ आते फिर 4 रोज़ नहीं। तो पूछना चाहिए इतने रोज़ तुम क्या करते थे? बाप को याद करते थे? स्वदर्शन चक्र फिराते थे? जो बहुत देरी से आते हैं उनसे लिखकर भी पूछना चाहिए। कई बदली होकर जाते हैं फिर भी कोई सेन्टर का तो जरूर है, उनको मंत्र मिला हुआ है – बाप को याद करना है और चक्र को फिराना है। बाप ने तो बहुत सहज बात बताई है। अक्षर ही दो हैं – मनमनाभव, मुझे याद करो और वर्से को याद करो, इसमें सारा चक्र आ जाता है। जब कोई शरीर छोड़ते हैं तो कहते हैं फलाना स्वर्ग गया। परन्तु स्वर्ग क्या है, किसको पता नहीं है। तुम अभी समझते हो वहाँ तो राजाई है। ऊंच से लेकर नींच तक, साहूकार से लेकर गरीब तक सब सुखी होते हैं। यहाँ है दु:खी दुनिया। वह है सुखी दुनिया। बाप समझाते तो बहुत अच्छा हैं। भल कोई दुकानदार हो वा क्या भी हो, पढ़ाई के लिए बहाना देना अच्छा नहीं लगता है। नहीं आते हैं तो उनसे पूछना है, तुम कितना बाप को याद करते हो? स्वदर्शन चक्र फिराते हो? खाओ पियो, घूमो फिरो – उसकी कोई मना नहीं है। इसके लिए भी टाइम निकालो। औरों का भी कल्याण करना है। समझो कोई का कपड़े साफ करने का काम है, बहुत लोग आते हैं। भल मुसलमान है वा पारसी है, हिन्दू है, बोलो तुम स्थूल कपड़े धुलाते हो परन्तु यह जो तुम्हारा शरीर है, यह तो पुराना मैला वस्त्र है, आत्मा भी तमोप्रधान है, उनको सतोप्रधान, स्वच्छ बनाना है। यह सारी दुनिया तमोप्रधान, पतित कलियुगी पुरानी है। तमोप्रधान से सतोप्रधान बनने के लिए लक्ष्य है ना। अब करो न करो, समझो न समझो, तुम्हारी मर्जी। तुम आत्मा हो ना। आत्मा जरूर पवित्र होनी चाहिए। अभी तो तुम्हारी आत्मा इमप्योर हो गई है। आत्मा और शरीर दोनों मैले हैं। उनको साफ करने के लिए तुम बाप को याद करो तो गैरन्टी है, तुम्हारी सोल एकदम 100 प्रतिशत पवित्र सोना बन जायेगी, फिर जेवर भी अच्छा बनेगा। मानो न मानो, तुम्हारी मर्जी। यह भी कितनी सर्विस हुई। डॉक्टर्स पास जाओ, कालेजों में जाओ, बड़ों-बड़ों को जाकर समझाओ कि कैरेक्टर बहुत अच्छा होना चाहिए। यहाँ तो सब हैं कैरेक्टरलेस। बाप कहते हैं वाइसलेस बनना है। वाइसलेस दुनिया थी ना। अभी विशश है अर्थात् कैरेक्टरलेस है। कैरेक्टर बहुत खराब हो गये हैं। वाइसलेस बनने के बिना सुधरेंगे नहीं। यहाँ मनुष्य हैं ही कामी। अभी विशश दुनिया से वाइसलेस वर्ल्ड एक बाप ही स्थापन करते हैं। बाकी पुरानी दुनिया विनाश हो जायेगी। यह चक्र है ना। इस गोले में समझानी बहुत अच्छी है। यह वाइसलेस वर्ल्ड थी, जहाँ देवी-देवता राज्य करते थे। अभी वो कहाँ गये? आत्मा तो विनाश होती नहीं, एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। देवी-देवताओं ने भी 84 जन्म लिये हैं। अभी तुम सयाने बने हो। आगे तुमको कुछ भी पता नहीं था। अभी यह पुरानी दुनिया कितनी गन्दी है, तुम फील करते हो बाबा जो कहते हैं वह तो बरोबर ठीक है। वहाँ तो है ही पवित्र दुनिया। यह पवित्र दुनिया न होने कारण अपने पर देवता के बदले हिन्दू नाम रख दिया है। हिन्दुस्तान में रहने वाले हिन्दू कह देते हैं, देवतायें हैं स्वर्ग में। अभी तुम इस चक्र को समझ गये हो। जो जो सेन्सीबुल हैं वह अच्छी रीति समझते हैं तो जैसे बाप समझाते हैं ऐसे फिर बैठ रिपीट करना चाहिए। मुख्य-मुख्य अक्षर नोट करते जाओ। फिर सुनाओ, बाप ने यह-यह प्वाइंट सुनाई है। बोलो, मैं तो गीता का ज्ञान सुनाता हूँ। यह गीता का ही युग है। 4 युग हैं, यह तो सब जानते हैं। यह है लीप युग। इस संगमयुग का किसको भी पता नहीं हैं, तुम जानते हो यह पुरूषोत्तम संगम युग है। मनुष्य शिव जयन्ती भी मनाते हैं परन्तु वह कब आये, क्या किया यह जानते नहीं। शिव जयन्ती के बाद है कृष्ण जयन्ती, फिर राम जयन्ती। जगत अम्बा, जगत पिता की जयन्ती तो कोई मनाते नहीं। सब नम्बरवार आते हैं ना। अभी तुमको यह सारी नॉलेज मिलती है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1. हमारा बाप, सुप्रीम बाप, सुप्रीम टीचर, सुप्रीम सतगुरू है – यह बात सबको सुनानी है। अल्फ और बे की पढ़ाई पढ़ानी है।

2. ज्ञान अर्थात् सृष्टि चक्र की नॉलेज को धारण कर स्वदर्शन चक्रधारी बनना है और विज्ञान अर्थात् आवाज़ से परे शान्ति में जाना है। 7 रोज़ का कोर्स लेकर फिर कहाँ भी रहते पढ़ाई करनी है।

वरदान:- प्रकृति द्वारा आने वाली परिस्थितियों पर विजय प्राप्त करने वाले पुरूषोत्तम आत्मा भव
ब्राह्मण आत्मायें पुरुषोत्तम आत्मायें हैं। प्रकृति पुरुषोत्तम आत्माओं की दासी है। पुरुषोत्तम आत्मा को प्रकृति प्रभावित नहीं कर सकती है। तो चेक करो प्रकृति की हलचल अपनी ओर आकर्षित तो नहीं करती है? प्रकृति साधनों और सैलवेशन के रूप में प्रभावित तो नहीं करती है? योगी वा प्रयोगी आत्मा की साधना के आगे साधन स्वत: आते हैं। साधन साधना का आधार नहीं है लेकिन साधना साधनों को आधार बना देती है।
स्लोगन:- ज्ञान का अर्थ है अनुभव करना और दूसरों को अनुभवी बनाना।

TODAY MURLI 15 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 15 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 14 July 2018 :- Click Here

15/07/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
21/12/83

The significance of great charity through instant donation.

Today, the Father, the Lawmaker and the Bestower of Blessings is seeing His extremely loving, serviceable children everywhere. Although far away, all the powerful children everywhere are close to the Father because of their speciality of love. With the relationship of love and the clarity and cleanliness of their intellects, they are all experiencing being close and personally face to face with the Father. With their third eye, that is, with their divinity, their eyes are very clearly seeing the scenes far away on the TV of the intellect. For instance, in this perishable world, at the time of a special programme on the perishable TV, everyone switches it on. In the same way, children are also sitting with their awareness switched on at this special time. BapDada is very pleased to see all the children experiencing the scenes that are far away from them to be close to them through the TV. At the same time, Baba is seeing the double gathering.

Today, in the subtle region Father Brahma was especially remembering the children because, according to the time, He was seeing all the children’s results from the moment they started their Brahmin life and checking at what speed all of them were moving to reach their destination, that is, to reach their stage of perfection. Everyone is moving along, but at what speed? So, what did he see? He only saw a handful out of the selected ones always moving along at the one fast speed. Seeing the children’s speed, Father Brahma asked a question: Whilst being knowledgefull, that is, whilst knowing the three aspects of time, whilst knowing the effort and its reward, whilst knowing the method and its success, why are you still unable to maintain a fast speed all the time? What reply would he have been given? You know the reason, you know the method for the solution, and yet you are unable to change the reason into a solution.

The Father smiled and said to Father Brahma: Many children have a very old and strong habit. What is that? What do you do? The Father gives you instant fruit, that is, fresh fruit, but those who are compelled by their habits let their fresh fruit dry up before they take it. “I will do it. It will happen. It definitely has to happen. I have to become number one. I have to be in the rosary.” Thinking in this way and making such plans, you make the instant fruit the fruit of the future. “I will do it” means it is the fruit of the future. Think, do it instantly and eat the instant fruit. Whether it’s in terms of the self or in terms of service, you eat very little instant fruit or nourishing fruit of service. From what do you receive energy – fresh fruit or dried up fruit? Some have the habit of saying that they will eat something, but they keep putting it off and let the fresh fruit go dry in this way. Similarly, here too, you say: If this happens, I will do it. You think a lot in this way. You think something, you receive a direction and you do it. By not doing it, you even make a fresh direction dry (old). You then think that you did everything according to the direction and yet didn’t get much of a result. Why? Because there was a gap of time, the line (of fortune) changed according to the time. Any line of fortune is created and told according to the time. Due to this, when the time changes, the atmosphere, attitude and vibrations all change. This is why it is remembered: ‘Instant donation is great charity.’ As soon as you receive a direction, do it at that time with that same enthusiasm. By doing such service, you receive fresh nourishing fruit and by taking that, you automatically become a powerful soul and continue to move forward at a fast speed. All of you eat fruit, but check what kind of fruit you eat.

Father Brahma makes all you children into powerful souls by giving you fresh fruit and gives you the thought to move constantly at a fast speed. Whilst constantly keeping this thought of Father Brahma in your awareness, continue to eat the fresh fruit of every act at every moment. You will then never experience any type of weakness or illness. Father Brahma was smiling. What do worldly doctors advise at present? Eat everything fresh. Don’t eat things after they have been burnt or roasted. Do not transform it before eating it. This is what they say, is it not? So Father Brahma was also telling the children: Whatever shrimat you receive according to the time, in whatever form, put it into practice at the same time and in the same way and you will always be like Father Brahma; become an instant donor and thereby a great, charitable soul, and you will come in the first number. Father Brahma and the World Mother claimed a right to the first kingdom. What speciality did you see in both souls? They thought of something and instantly did it. They never thought: I will do this first and then do something else. This was their speciality. So the great, charitable souls who follow the mother and father are eating the elevated fruit of that charity and are constantly powerful. In this way, there isn’t the slightest weakness in their dreams or thoughts. They constantly move along at a fast speed. However, there are only a few out of a handful.

Because Father Brahma is the creator of the corporeal world and, because he played the part of giving sustenance through the corporeal form, he has special love for the children who are playing their part s in the corporeal form. Whoever you have special love for, you feel their weakness to be your own weakness. Seeing the reason for this weakness of you children, Father Brahma feels deep love for you, so that you become constantly powerful, constant and intense effort-makers and remain constantly in the flying stage and that you become free from having to labour time and time again.

Did you hear the things that Father Brahma said? Only the children are merged in Father Brahma’s eyes. Do you know the special language of Father Brahma and what he used to say? He always used to say over and over again: “My children, my children!” The Father smiles. You are the children of Brahma and this is why you say that your surname is Brahma Kumars and Brahma Kumaris. You don’t say that you are Shiv Kumars and Shiv Kumaris. It is with Brahma that you have to go. It is with Brahma that you remain for the longest time with different names and forms. You are Brahma’s mouth-born creation. The Father is with you anyway. Nevertheless, in the corporeal, it is Brahma’s part. Achcha. Baba will tell you more things some other time.

Special rivers from three places have come in this group. The double foreigners are at present the incognito Ganges because it is not their turn. Now, the special meeting is with the three rivers: Delhi, Karnataka and Maharashtra. However, there are also others claiming a bonus in between. Those who have come in their turn will of course claim their right, but even the double foreigners have come running and have reached here to claim their right first. So, they too would be loved, would they not? Double foreigners are also receiving the treasures of an added bonus. They will then receive the treasures of their own turn. BapDada loves all the children from everywhere because each place has its own speciality. Delhi is the place of the seed of service and Karnataka and Maharashtra are the expansion of the tree. A seed is underground whereas the expansion of the tree is very large, and so Delhi is the seed. At the end, the sound will spread in the land that is the seed. However, at present, there is special expansion in Karnataka, Maharashtra and Gujarat. The expansion is the beauty of the tree. There is beauty of the Brahmin tree because of the expansion of service in Karnataka and Maharashtra. The tree is being decorated. There are two questions people ask. Firstly, they ask about the expenses and, secondly, about the number of Brahmins. So, in terms of numbers, both Maharashtra and Karnataka are the decoration of the Brahmin family. The seed has its own speciality. If there were no seed, the tree would not emerge. However, the seed is a little incognito at present. There is greater expansion of the tree. If all of you from Delhi hadn’t come, there would be no foundation of service. Wherever the first invitations for service were received and accepted, all of this started in Delhi. This is why it became the place of service and it will also become the place of the kingdom. Where the Brahmins stepped first, that place became the pilgrimage place and it will also become the place of the kingdom. There is a lot of praise of the lands abroad too. The drums of revelation from abroad will reach this land. If it weren’t for the foreign lands, how could revelation take place in this land? This is why the lands abroad also have their importance. Hearing the sounds abroad, the people in Bharat will wake up. So the place where the sound of revelation will emerge from will be the foreign lands. Therefore, this is the importance of the lands abroad. Those who live abroad belonged to this land originally anyway. However, seeing the elevated souls living just in name in the foreign lands being so enthusiastic, the people of this land also have greater enthusiasm. This is also their part s of incognito service. Therefore, each place has its own speciality. Achcha.

To the great, charitable souls who give instant donations, to those who are constantly intense effort-makers in their thinking and doing, to those who eat the nourishing fruit of service through their every thought at every second, to such constantly powerful souls who follow the mother and father , to those who put the thoughts of Father Brahma into practice, to all the powerful children in this land and abroad, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Avyakt BapDada meeting sevadharis:

Those who do service eat the fruit of that. Those who eat fruit always stay healthy. You are not those who eat dried up fruit, but those who eat fresh fruit. Servers are those who have a right to fortune. You have such great fortune! Devotees go in front of the memorial images and do service. They consider that service to be a great charity. And where do you serve? At the great living pilgrimage place. Those people simply go on pilgrimages, tour around and come back and, even then, they are remembered as great souls. You serve at the great pilgrimage place and become greatly fortunate. Maya cannot come to those who stay engaged in service. “Servers” means those who serve through their minds and who also keep busy in service with their bodies. If, along with the body, the mind also remains busy, Maya will not come. Do physical service with your body and use your mind to do the service of making the atmosphere and the environment powerful. Do double service, not single. Those who are double servers will also have just as much attainment. The mind will benefit, the body will benefit and you will receive plenty of wealth. Even at this time, the true servers will never starve. You will definitely receive at least two chapattis. So, have all of you claimed your number in the lottery of service? Wherever you go and whenever you go, always keep this happiness with you because the Father is always with you. Continue to play the part of service while dancing in happiness. Achcha.

Question: What is the speciality of the confluence age which doesn’t exist throughout the rest of the cycle?

Answer: It is only at the confluence age that everyone has the right to say “My Baba!” Everyone says “My Baba!” to the One. To say “mine” means to claim a right. It is only at the confluence age that each of you has the right to experience the consciousness of “mine” in terms of the Father belonging to you. When you say “My Baba!” you become one who has a right to the inheritance. Everything then belongs to you. It is not a limited “mine,” but the unlimited “mine.” Therefore, maintain the happiness of the unlimited consciousness of “mine”.

Question: What is the main sign of a soul who is close?

Answer: Souls who are close are always equal to the Father in their every thought, word and deed. Those who are close will also definitely be equal. Souls who are distant will only receive a little. Souls who are close will claim their full right. Therefore, whatever are the Father’s thoughts and words are your thoughts and words: this is called being close. Achcha.

Question: What awareness do you need to constantly maintain so that your time is never wasted?

Answer: Always maintain the awareness that it is now the time of the confluence age and that you have received a very elevated lottery. The Father is making us into deities like diamonds. Those who have this awareness will never waste their time. This knowledge is your source of income and so never miss your study.

Question: What does a soul love the most? What is the sign of love?

Answer: A soul loves his body the most. He has so much love for his body that he does not want to shed it and goes to a lot of trouble not to leave it. Baba says: Children, those are dirty, tamopradhan bodies. You now have to take new bodies. Therefore, remove your attachment from those old bodies. Not to have any awareness of your body is your goal.

Question: What special power do you need in order to put any of your plans into a practical form?

Answer: The power of transformation. Until you have the power of transformation, you are unable to put your decision into a practical form, because at every place and in every stage, you definitely have to bring about transformation, either in yourself or in service.

Blessing: May you constantly be an embodiment of success in your efforts and in service by keeping a balance of being a child and a master.
Always have the intoxication that you are a child of the unlimited Father and a master of the unlimited inheritance. However, when any advice has to be given, when plans have to be made or any task has to be carried out, then do that as a master and when anything is finalised by the majorityor by the instrument souls, then at that time become a child. Learn the art of knowing when to become an advisor and when to become one who follows advice, and you will be successful in both your efforts and in service.
Slogan: In order to be an instrument and humble, surrender your mind and intellect to God.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 15 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 July 2018

To Read Murli 14 July 2018 :- Click Here
15-07-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 21-12-83 मधुबन

तुरत दान महापुण्य का रहस्य

आज विधाता, वरदाता बाप अपने चारों ओर के अति स्नेही सेवाधारी बच्चों को देख रहे थे। चारों ओर के समर्थ बच्चे अपने स्नेह की विशेषता द्वारा दूर होते भी समीप हैं। स्नेह के सम्बन्ध द्वारा, बुद्धि की स्पष्टता और स्वच्छता द्वारा समीप का, सन्मुख का अनुभव कर रहे हैं। तीसरे नेत्र अर्थात् दिव्यता के द्वारा उन्हों के नयन बुद्धि रूपी टी.वी. में दूर के दृश्य स्पष्ट अनुभव कर रहे हैं। जैसे इस विनाशी दुनिया के विनाशी साधन टी.वी. में विशेष प्रोग्राम्स के समय सब स्विच आन कर देते हैं। ऐसे बच्चे भी विशेष समय पर स्मृति का स्विच आन कर बैठे हैं। सभी दूरदर्शन द्वारा दूर के दृष्य को समीप अनुभव करने वाले बच्चों को बाप-दादा देख-देख हर्षित हो रहे हैं। एक ही समय पर डबल सभा को देख रहे हैं।

आज विशेष वतन में ब्रह्मा बाप बच्चों को याद कर रहे थे क्योंकि सभी बच्चे जब से जो ब्राह्मण जीवन में चल रहे हैं उन ब्राह्मणों की, समय प्रमाण मंजिल अर्थात् सम्पूर्णता की स्थिति तक किस गति से चले रहे हैं, वह रिजल्ट देख रहे थे। चल तो सब रहे हैं लेकिन गति (स्पीड) क्या है? तो क्या देखा! गति में सदैव एक रफ्तार तीव्र हो अर्थात् सदा तीव्रगति हो, ऐसे कोई में भी कोई देखे। ब्रह्मा बाप ने गति को देख बच्चों की तरफ से प्रश्न किया कि नॉलेजफुल होते अर्थात् तीनों कालों को जानते हुए, पुरुषार्थ और परिणाम को जानते हुए, विधि और सिद्धि को जानते हुए, फिर भी सदाकाल की तीव्रगति क्यों नहीं बना सकते! क्या उत्तर दिया होगा? कारण को भी जानते हो, निवारण की विधि को भी जानते हो फिर भी कारण को निवारण में बदल नहीं सकते!

बाप ने मुस्कराते हुए ब्रह्मा बाप से बोला कि बहुत बच्चों की एक आदत बहुत पुरानी और पक्की है – वह कौन सी? क्या करते! बाप प्रत्यक्ष फल अर्थात् ताज़ा फल खाने को देते हैं लेकिन आदत से मजबूर उस ताज़े फल को भी सूखा बना करके स्वीकार करते हैं। कर लेंगे, हो जायेंगे, होना तो जरूर है, बनना तो पहला नम्बर ही है, आना तो माला में ही है – ऐसे सोचते-सोचते प्लैन बनाते-बनाते प्रत्यक्ष फल को भविष्य का फल बना देते हैं। करेंगे, माना भविष्य फल। सोचा, किया और प्रत्यक्ष फल खाया। चाहे स्व के प्रति, चाहे सेवा के प्रति प्रत्यक्ष फल वा सेवा का ताज़ा मेवा कम खाते हैं। शक्ति किससे आती है – ताजे फल से वा सूखे से? कईयों की आदत होती है – खा लेंगे – ऐसे करते ताजे को सूखा फल बना देते हैं। ऐसे ही यहाँ भी कहते यह होगा तो फिर करेंगे, यह ज्यादा सोचते हैं। सोचा, डायरेक्शन मिला और किया। यह न करने से डायरेक्शन को भी ताजे से सूखा बना देते हैं। फिर सोचते हैं कि किया तो डायरेक्शन प्रमाण लेकिन रिजल्ट इतनी नहीं निकली। क्यों? समय पड़ने से वेला के प्रमाण रेखा बदल जाती है। कोई भी भाग्य की रेखा वेला के प्रमाण ही सुनाते वा बनाते हैं। इस कारण वेला बदलने से वायुमण्डल, वृत्ति, वायब्रेशन सब बदल जाता है इसलिए गाया हुआ है ”तुरत दान महापुण्य”। डायरेक्शन मिला और उसी वेला में उसी उमंग से किया। ऐसी सेवा का ताजा मेवा मिलता है, जिसको स्वीकार करने अर्थात् प्राप्त करने से शक्तिशाली आत्मा बन स्वत: ही तीव्रगति में चलते रहते। सभी फल खाते हो लेकिन कौन सा फल खाते हो, यह चेक करो।

ब्रह्मा बाप सभी बच्चों को ताज़े फल द्वारा शक्तिशाली आत्मा बनाए सदा तीव्रगति से चलने का संकल्प देते हैं। सदा ब्रह्मा बाप के इस संकल्प को स्मृति में रखते हुए हर समय हर कर्म का श्रेष्ठ और ताजा फल खाते रहो। तो कभी भी किसी भी प्रकार की कमजोरी वा व्याधि आ नहीं सकती है। ब्रह्मा बाप मुस्करा रहे थे। जैसे वर्तमान समय के विनाशी डाक्टर्स भी क्या राय देते हैं! सब ताजा खाओ। जला करके, भून करके नहीं खाओ। रूप बदलकर नहीं खाओ। ऐसे कहते हैं ना। तो ब्रह्मा बाप भी बच्चों को कह रहे थे जो भी श्रीमत समय प्रमाण जिस रूप से मिलती है, उसी समय पर उस रूप से प्रैक्टिकल में लाओ तो सदा ही ब्रह्मा बाप समान तुरत दानी महापुण्य आत्मा बन नम्बरवन में आ जायेंगे। ब्रहृमा बाप और जगत अम्बा फर्स्ट राज्य अधिकारी, दोनों आत्माओं की विशेषता क्या देखी? सोचा और किया। यह नहीं सोचा कि यह करके पीछे यह करेंगे। यही विशेषता थी। तो फालो मदर फादर करने वाले महापुण्य आत्मा, पुण्य का श्रेष्ठ फल खा रहे हैं और सदा शक्तिशाली हैं। स्वप्न में भी संकल्प मात्र भी कमजोरी नहीं। ऐसे सदा तीव्रगति से चल रहे हैं लेकिन कोई में भी कोई।

ब्रह्मा बाप को साकार सृष्टि के रचयिता होने के कारण, साकार रूप में पालना का पार्ट बाजाने के कारण, साकार रूप में पार्ट बजाने वाले बच्चों से विशेष स्नेह हैं। जिससे विशेष स्नेह होता है उसकी कमजोरी सो अपनी कमजोरी लगती है। ब्रह्मा बाप को बच्चों की इस कमजोरी का कारण देख स्नेह आता है कि अभी सदा के शक्तिशाली, सदा के तीव्र पुरुषार्थी सदा उड़ती कला वाले बन जाएं। बार-बार की मेहनत से छूट जाएं।

सुना ब्रह्मा बाप की बातें। ब्रह्मा बाप के नयनों में बच्चे ही समाये हुए हैं। ब्रह्मा की विशेष भाषा का मालूम है, क्या बोलते हैं? बार-बार यही कहते हैं ”मेरे बच्चे, मेरे बच्चे।” बाप मुस्कराते हैं। हैं भी ब्रह्मा के ही बच्चे, इसलिए अपने सरनेम में भी ब्रह्माकुमार-ब्रह्माकुमारी कहते हो ना। शिवकुमार-शिवकुमारी तो नहीं कहते हो। साथ भी ब्रह्मा को ही चलना है। भिन्न-भिन्न नाम रूप से ज्यादा समय साथ तो ब्रह्मा बाप का ही रहता है ना। ब्रह्मा मुख वंशावली हो। बाप तो साथ है ही। फिर भी साकार में ब्रह्मा का ही पार्ट है। अच्छा और रूह-रूहान फिर सुनायेंगे।

इस ग्रुप में तीन तरफ की विशेष नदियाँ आई हैं। डबल विदेशी तो अभी गुप्त गंगा है क्योंकि टर्न में नहीं हैं। अभी देहली, कर्नाटक और महाराष्ट्र इन तीन नदियों का मिलन विशेष है। बाकी साथ-साथ चूंगे में हैं। जो टर्न में आये हैं वह तो अपना हक लेंगे ही लेकिन डबल विदेशी भी भाग-भाग करके अपना हक पहले लेने पहुँच गये हैं। तो वह भी प्यारे होंगे ना। डबल विदेशियों को भी चूंगे में माल मिल रहा है। फिर अपने टर्न में मिलेगा। हर तरफ के बच्चे बापदादा को प्यारे हैं क्योंकि हर तरफ की अपनी-अपनी विशेषता है। देहली है सेवा का बीज स्थान और कर्नाटक तथा महाराष्ट्र है वृक्ष का विस्तार। जैसे बीज नीचे होता है और वृक्ष का विस्तार ज्यादा होता है तो देहली बीज रूप बनी। अन्त में फिर बीजरूप धरनी पर ही आवाज होना है। लेकिन अभी कर्नाटक, महाराष्ट्र और गुजरात तीनों का विशेष विस्तार है। विस्तार वृक्ष की शोभा होती है। कर्नाटक और महाराष्ट्र सेवा के विस्तार से ब्राह्मण वृक्ष की शोभा है। वृक्ष सज रहा है ना। प्रश्न भी यह दो ही पूछते हैं ना। एक तो खर्चे की बात पूछते, दूसरा ब्राह्मणों की संख्या का पूछते हैं। तो महाराष्ट्र और कर्नाटक दोनों ही संख्या के हिसाब से ब्राह्मण परिवार का श्रृंगार है। बीज की विशेषता अपनी है। बीज नहीं होता तो वृक्ष भी नहीं निकलता। लेकिन बीज अभी थोड़ा गुप्त है। वृक्ष का विस्तार ज्यादा है। अगर देहली में भी आप सब नहीं जाते तो सेवा का फाउन्डेशन नहीं होता। पहला निमंत्रण सेवा का लिया या मिला। लेकिन देहली से ही शुरू हुआ इसलिए सेवा का स्थान भी वो ही बना और राज्य का स्थान भी वो ही बनेगा। जहाँ पहले ब्राह्मणों के पांव पड़े तीर्थ स्थान भी वही बना और राज्य स्थान भी वही बनेगा। विदेश की भी बहुत महिमा है। विदेश से भी विशेष प्रत्यक्षता के नगाड़े देश तक आयेंगे। विदेश नहीं होता तो देश में प्रत्यक्षता कैसे होती इसलिए विदेश का भी महत्व है। विदेश की आवाज को सुन भारत वाले जगेंगे। प्रत्यक्षता का आवाज निकलने का स्थान तो विदेश ही हुआ ना। तो यह है विदेश का महत्व। विदेश में रहने वाले भी हैं तो देश के ही, लेकिन निमित्त मात्र विदेश में रहने वाली श्रेष्ठ आत्माओं को उमंग-उत्साह में देख देश वालों में भी उमंग-उत्साह और ज्यादा होता है। यह भी उन्हों की गुप्त सेवा का पार्ट है। तो सभी की विशेषता अपनी हुई ना। अच्छा-

सदा तुरत दान महापुण्य आत्माएं, सोचने और करने में सदा तीव्र पुरुषार्थी, हर संकल्प, हर सेकण्ड सेवा का मेवा खाने वाले, ऐसे सदा शक्तिशाली फालो फादर और फालो मदर करने वाले, सदा ब्रह्मा बाप के संकल्प को साकार में लाने वाले ऐसे देश-विदेश चारों ओर के समर्थ बच्चों को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

सेवाधारियों से अव्यक्त बापदादा की मुलाकात:

जो सेवा करता वह मेवा खाता। मेवा खाने वाले सदा तन्दरूस्त रहते हैं। सूखा मेवा खाने वाले नहीं, ताज़ा मेवा खाने वाले। सेवाधारी सो भाग्य अधिकारी। कितना बड़ा भाग्य है। यादगार चित्रों के पास जाकर भक्त लोग सेवा करते हैं। उस सेवा को महापुण्य समझते हैं। और आप कहाँ सेवा करते हो! चैतन्य महातीर्थ पर। वे सिर्फ तीर्थों पर जाकर चक्कर लगाकर आते तो भी महान् आत्मा गाये जाते। आप तो महान् तीर्थ पर सेवा कर महान् भाग्यशाली बन गये। सेवा में तत्पर रहने वाले के पास माया आ नहीं सकती। सेवाधारी माना मन से भी सेवाधारी, तन से भी सेवा में बिजी रहने वाले। तन के साथ मन भी बिजी रहे तो माया नहीं आयेगी। तन से स्थूल सेवा करो और मन से वातावरण, वायुमण्डल को शक्तिशाली बनाने की सेवा करो। डबल सेवा करो, सिंगल नहीं। जो डबल सेवाधारी होगा उसको प्राप्ति भी इतनी होगी। मन का भी लाभ, तन का भी लाभ, धन तो अकीचार (अथाह) मिलना ही है। इस समय भी सच्चे सेवाधारी कभी भूखे नहीं रह सकते। दो रोटी जरूर मिलेंगी। तो सभी ने सेवा की लाटरी में अपना नम्बर ले लिया। जहाँ भी जाओ, जब भी जाओ यह खुशी सदा साथ रहे क्योंकि बाप तो सदा साथ है। खुशी में नाचते-नाचते सेवा का पार्ट बजाते चलो। अच्छा!

प्रश्न:- संगमयुग की कौन-सी विशेषता है जो सारे कल्प में नहीं हो सकती?

उत्तर:- संगमयुग पर ही हरेक को ”मेरा बाबा” कहने का अधिकार है। एक को ही सब मेरा बाबा कहते हैं। मेरा कहना अर्थात् अधिकारी बनना। संगम पर ही हरेक को एक बाप से मेरे-पन का अनुभव होता है। जहाँ मेरा बाबा कहा वहाँ वर्से के अधिकारी बन गये। सब कुछ मेरा हुआ। हद का मेरा नहीं, बेहद का मेरा। तो बेहद के मेरे-पन की खुशी में रहो।

प्रश्न:- समीप आत्मा की मुख्य निशानी क्या होगी?

उत्तर:- समीप आत्माएं अर्थात् सदा बाप के समान हर संकल्प, हर बोल और हर कर्म करने वाली। जो समीप होंगे वह समान भी अवश्य होंगे। दूर वाली आत्माएं थोड़ी अंचली लेने वाली होंगी। समीप वाली आत्मायें पूरा अधिकार लेने वाली होंगी। तो जो बाप के संकल्प, बोल वह आपके, इसको कहा जाता है समीप।

प्रश्न:- कौन सी स्मृति सदा रहे तो कभी टाइम वेस्ट नहीं करेंगे?

उत्तर:- सदा यही स्मृति रहे कि अभी संगम का समय है, बहुत ऊंची लाटरी मिली है। बाप हमें हीरे जैसा देवता बना रहे हैं, जिन्हें यह स्मृति रहती वह कभी टाइम वेस्ट नहीं करते। यह नॉलेज ही सोर्स आफ इनकम है इसलिए पढ़ाई कभी भी मिस न हो।

प्रश्न:- आत्मा को सबसे प्यारी चीज़ कौन सी है? प्यार की निशानी क्या है?

उत्तर:- आत्मा को यह शरीर सबसे प्यारा है। शरीर से इतना प्यार है जो वह छोड़ना नहीं चाहती। बचाव के लिए अनेक प्रबन्ध रचती है। बाबा कहते बच्चे यह तो तमोप्रधान छी-छी शरीर है। तुम्हें अब नया शरीर लेना है इसलिए इस पुराने शरीर से ममत्व निकाल दो। इस शरीर का भान न रहे, यही है मंजिल।

प्रश्न:- किसी भी प्लैन को प्रैक्टिकल में लाने के लिए विशेष कौन सी शक्ति चाहिए?

उत्तर:- परिवर्तन करने की शक्ति। जब तक परिवर्तन करने की शक्ति नहीं होगी तब तक निर्णय को भी प्रैक्टिकल में नहीं ला सकते हैं क्योंकि हर स्थान पर हर स्थिति में चाहे स्वयं के प्रति व सेवा के प्रति परिवर्तन जरूर करना पड़ता है।

वरदान:- बालक और मालिकपन के बैलेन्स से पुरुषार्थ और सेवा में सदा सफलतामूर्त भव 
सदा यह नशा रखो कि बेहद बाप और बेहद वर्से का बालक सो मालिक हूँ लेकिन जब कोई राय देनी है, प्लैन सोचना है, कार्य करना है तो मालिक होकर करो और जब मैजॉरिटी द्वारा या निमित्त बनी आत्माओं द्वारा कोई भी बात फाइनल हो जाती है तो उस समय बालक बन जाओ। किस समय राय बहादुर बनना है, किस समय राय मानने वाला – यह तरीका सीख लो तो पुरुषार्थ और सेवा दोनों में सफल रहेंगे।
स्लोगन:- निमित्त और निमार्णचित्त बनने के लिए मन और बुद्धि को प्रभू अर्पण कर दो।
Font Resize