15 august 2017

TODAY MURLI 15 August 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 15 August 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 14 August 2017 :- Click Here

BK murli today ~ 15/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

15/08/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to show (reveal) the Father through your divine, sweet behaviour. Give everyone the Father’s introduction and enable them to claim a right to their inheritance.
Question: What are the signs of children who are soul conscious?
Answer: They are very sweet and lovely. They follow shrimat accurately. They never make excuses about doing any task; they always say, “Ha ji” (Yes, surely); they never say no. Whereas body-conscious people think that they would lose their honour by doing a particular type of work, soul-conscious children always follow the Father’s orders. They have full regard for the Father. They never become angry or disobey the Father. They do not have attachment to their bodies. They make everything of theirs prosper by having remembrance of Shiv Baba; they would not ruin anything.
Song: No one is unique like the Innocent Lord.

Om shanti. Out of the whole big world, you can say Bharat in particular and Europe in general, because Bharat is the ancient land anyway. You understand that there was originally just Bharat. Those of all religions know that they all came one after another. Bharat existed before them. This is something to be understood. You children understand that Bharat truly is ancient. At that time, Bharat was very wealthy and so it was called heaven. At this time, no human being, apart from you children, knows the Father. You too only know Him, numberwise, according to the effort you make. Therefore, every one can understand for themselves that they don’t know the unlimited Father. They call out to Him and perform devotion, but none of them knows the Father’s biography. It is sung “Father shows son, son shows Father“. Now you children have to show the Father. The Father cannot show Himself. The Father does not go outside. You children have to give the Father’s introduction. You understand that the unlimited Father is also the Creator of heaven. If they were to know Him, they would be amazed and wonder why, although they are the children of God, they are unhappy and in the iron age. You also have to ask this question. The first question to ask is: What is your relationship with the Supreme Father, the Supreme Soul? Those who ask definitely have to know the answer. No one else asks because no one else knows. You can ask anyone. Commonly, everyone says that God is omnipresent. However, there is no meaning to omnipresence. They call Him the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. There has to be One who removes sorrow and gives happiness. If you touch on this subject, even a little, they will understand that there was nothing but happiness in heaven. Now, there is nothing but sorrow. Therefore, the Father must surely have removed everyone’s sorrow. This is something very easy to understand. You now understand that you belong to the parlokik Mother and Father. These things of knowledge exist here; they don’t exist in the golden age. There, there is neither knowledge nor ignorance. There, there is no one who can give knowledge. They have already achieved the reward through knowledge. You are now receiving the reward through knowledge, numberwise, according to the effort you make. It requires a lot of effort to become soul conscious. Only those who remain engaged in Shiv Baba’s service can become soul conscious. When someone has body consciousness, that fragrance is gone from that person. You can tell that a person is body conscious from that one’s activities. Those who are soul conscious are very sweet and lovely. We are all brothers, children of the one Father. We are also brothers and sisters. Both follow shrimat accurately. It isn’t that one follows shrimat and that the other one makes excuses and sits down. The Father cannot call anyone who doesn’t follow His shrimat His child. Externally, He may say, “Child, child”. Internally, He understands that so-and-so is disobedient and also what status he would claim. Both Bap and Dada can understand when someone is not following shrimat, that it is because of body consciousness that he is not following shrimat. Those who are soul conscious are very sweet. This devilish world is so bitter: mothers and fathers, brothers and sisters are all so bitter. Here, too, those who are body conscious are bitter. You are now becoming soul conscious. Some have just reached the tamo stage from being tamopradhan and only that extremity has been removed. Others have reached the rajo stage. Only a few have reached the sato stage. It isn’t that you will gradually reach that stage. For how long will you continue to move along slowly? Those who are soul conscious are not body conscious about doing any particular type of work, thinking that they would lose their honour by doing that. When you were in Pakistan, Baba also did all types of work in order to teach you children so that you didn’t have body consciousness about anything. By your becoming body conscious, everything is destroyed and all truth is lost. You then fall even further down than those outside who are to become subjects. Of the subjects, those who become wealthy will also have maids and servants. Here, you go and become maids and servants. Those wealthy ones are better than you! Everything has to be done with the intellect. It is understood that those who do not become children, who simply become very good helpers, become very wealthy. They don’t need to have a job. Here, you have to work for others. Then perhaps, at the end, you will receive your fortune of a kingdom (a crown). Both types have to experience punishment. Only enlightened children are able to understand these things. Those who are ignorant are body conscious. Their behaviour is such. It is then understood that such ones are of no use. Here, you children have to follow shrimat. Otherwise, Maya will deceive you a great deal. You quickly become body conscious. It takes effort to finish body consciousness and to become soul conscious. Those who stay here have the company of Brahmins. The world outside is very bad. In knowledge, you should have such first-class company that you are completely coloured by that one. By having the company of those who are body conscious, you become completely impure. Then, you don’t even follow orders. Baba says: If you come and ask Me, I would instantly tell you whether you are obedient or not. There are very good children, numberwise, according to effort. They continue to please the heart. There is a lot of unhappiness and violence in the world; there is a lot of bloodshed. It is called the forest of thorns. You have moved away from that. You are now at the confluence age. This is in your intellects: we live at home with the family while at the confluence age. We are now continuing to become flowers from thorns. We are moving away from thorns. We are different from those uneducated people; we are religious. Only you are religious in this world. That too is numberwise according to your efforts. Those who don’t even know the Father are irreligious. At this time all are irreligious, especially in Bharat. They say that they don’t know about religion. Therefore, they are irreligious. Religious and irreligious; Pandavas and Kauravas. The Pandavas didn’t have a physical war. We have an incognito war with Maya that no one knows about. If we don’t remember the Father, we become slapped by Maya and storms come. The Father says: Your faces are now on that side and your feet are on this side. You should always continue to remember the new world. You have to live at home with your family. The Father says: The stage of those who live at home with their families is better than of those who are free from bondage. Not all can be the same; they are numberwise. In a school , too, not everyone claims the same number. This is an unlimited school. The Father is concerned about the children at all the centres. This is called having a broad and unlimited intellect. You will have a broad and unlimited intellect when you remember the Father. The intellects of you children have now become broad and unlimited. You know about the incorporeal world, the subtle region, the corporeal world and how the whole cycle turns. This is known as a broad intellect and unlimited intellect. Human beings have limited intellects. Your intellects are becoming unlimited. Therefore, you children have to become very sweet. The more sweet and perfect you become now, the more imperishable that will become in the future. You should check that you don’t have any body consciousness. If you say “No” to doing anything, it is understood that you have body consciousness. In the golden age you are all soul conscious. You know that you have to shed an old body and take a new one. Here, people cry so much. There is body consciousness; they love bodies a great deal. For you children, it is as though this world doesn’t exist. You came bodiless and you have to return bodiless. The unlimited Father is teaching you children, so you should have so much regard for Him. Monkeys don’t have regard for anyone. They would even howl at elephants! The Father would not call those who are bitter inside worthy children. He would say: Those living outside are better than they are. At least they have regard ! This is also said to be the drama. Today, someone is moving along very well and tomorrow there are storms of Maya. They don’t understand that they are being influenced by storms. Even senior ones are affected by storms. Nevertheless, it is said to be the drama. We are claiming our inheritance from Shiv Baba. When you forget this, everything is ruined. Everything will prosper by eating everything from Shiv Baba’s bhandara (treasure-store). If you forget that One, your apron becomes empty. You will also claim an ordinary status among the subjects. There will be a lot of punishment. If you leave (this yagya), you make the intellects of others have doubts. Baba feels mercy. However, He cannot tolerate Maya attacking you children. The Master teaches you a great deal. Remain unshakeable and immovable. If you don’t remain like this, Baba understands that you haven’t yet reached the silver-aged stage. He is amazed! Because of not having full knowledge and because of not having yoga with Shiv Baba, they fall. They have so many types of storm. Ascending and descending continues all the time. If you fall down, you have to get up and become alert. We are only concerned with Shiv Baba. No matter what happens, we have to claim our inheritance from Shiv Baba. Mama and Baba also claim it from Him. You have to remember Him alone and listen to His murli. Where else would you go? There is only this one shop. You cannot receive liberation and liberation-in-life without coming here. Everyone has to come in front of the Father. Yes, those who are in bondage and die in remembrance of Baba can also claim a good status. Because they died in remembrance of Baba, their status would be higher than those who live here and are disobedient due to body consciousness. That is their great fortune. There is no other difficulty on this path of knowledge. It is very easy.

[wp_ad_camp_1]

 

Here, you have to become soul conscious a great deal. Many stay in a lot of body consciousness. Baba doesn’t tell you anything else but, internally, He feels mercy in His heart. You receive a livelihood for your body from Shiv Baba’s bhandara and yet you do not take care of the yagya at all! So, what status will you claim? You have to take care of this yagya a great deal. Wherever centres are established, they are Shiv Baba’s yagya. For this yagya, you just need three square feet of land; that’s all. Even if someone is old and unable to explain anything, he can call other brothers and sisters. Just set up a small room and put up a board. That is an act of great charity. It is now the iron age and destruction is just ahead. You definitely have to claim your inheritance of heaven from the Father. You receive your inheritance of heaven at the confluence age when the old world is destroyed and the new world is established. You receive your inheritance at the confluence age and it then becomes imperishable for the future. You can explain a great deal. You simply need three square feet of land, that’s all. Even if you uplift one or two, that is great fortune. You have given them just the one the mantra: ‘Manmanabhav!’ Simply say: Remember the Father and your final thoughts will lead you to your destination. The Father is giving you the treasures of heaven. You heard that and it sat in your intellects and you became worthy of going to heaven. The one who gives you that space also receives a right. Baba tells you everything so easily. Show others the way to the land of happiness. Even if they simply become subjects, that too is good. They will continue to become numberwise. ‘Three square feet’ is very well known and, through it, you become the masters of the world. The subjects will also say that they are the masters of the world. This building was also three feet of land, was it not? Everything here began with three feet of land. There was just a small place and it then gradually began to grow. Many such people will come to whom Baba will say: What will you do with your money? He gives you very good advice. Simply buy three feet of land and open 10 to 15 colleges and hospitals. Rent a building in your town. All of this is to be destroyed. Rather than that, if you open 10 to 15 centres, many will be benefited and you will become very wealthy. You can open this college in a very small space. You simply have to become sticks for the blind and show them the path. You have to awaken everyone. Remember the Father and your inheritance and your boat will go across. There is no question of any other expense etc. You will claim an unlimited inheritance from the unlimited Father. It is very easy to explain. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Keep the company of first-class enlightened souls. Become soul conscious. Remain far away from the company of body-conscious people.
  2. Serve the yagya with a lot of love and an honest heart. Become very lovely and sweet. Show yourself to be worthy. Do not be disobedient about anything.
Blessing: May you have the support of God’s love and thereby become filled with happiness and peace and forget the world of sorrow.
God’s love gives such happiness that if you become lost in it, you will forget this world of sorrow. To be able to have the desires of whatever you want in life fulfilled is sign of God’s love. Not only does God give you happiness and peace, He makes you a treasure-store of those. Just as the Father is the Ocean of Love and not a river or a lake, similarly, He also makes you children into masters of the treasure-store of happiness. This is why there is no need to ask for anything. Simply use the treasures you have received in right way from time to time.
Slogan: Hand over the burden of all your weaknesses to the Father and become double light.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_5]

Read Bk Murli 13 August 2017 :- Click Here

 

Brahma kumaris murli 15 August 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 15 August 2017

August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 14 August 2017 :- Click Here

BK murli today ~ 15/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

15/08/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हें अपनी दैवी मीठी चलन से बाप का शो करना है, सबको बाप का परिचय दे, वर्से का अधिकारी बनाना है”
प्रश्नः- जो बच्चे देही-अभिमानी हैं, उनकी निशानियां क्या होंगी?
उत्तर:- वह बहुत-बहुत मीठे लवली होंगे। वह श्रीमत पर एक्यूरेट चलेंगे। वह कभी किसी काम के लिए बहाना नहीं बनायेंगे। सदा हाँ जी करेंगे। कभी ना नहीं करेंगे। जबकि देह-अभिमानी समझते यह काम करने से मेरी इज्जत चली जायेगी। देही-अभिमानी सदा बाप के फरमान पर चलेंगे। बाप का पूरा रिगार्ड रखेंगे। कभी क्रोध में आकर बाप की अवज्ञा नहीं करेंगे। उनका अपनी देह से लगाव नहीं होगा। शिवबाबा की याद से अपना खाना आबाद करेंगे, बरबाद नहीं होने देंगे।
गीत:- भोलेनाथ से निराला…

ओम् शान्ति। इतनी सारी बड़ी दुनिया है इसमें भारत खास और यूरोप आम कहें क्योंकि भारत तो प्राचीन ही है। यह तो समझते हैं असुल भारत ही था। सब धर्म वाले यह तो जानते ही हैं कि हम एक दो के पिछाड़ी आये हैं,हमारे आगे भारत ही था। यह तो समझ की बात है ना। तुम बच्चे जानते हो कि बरोबर भारत ही प्राचीन है। उस समय भारत ही बहुत धनवान था तो स्वर्ग कहा जाता था। इस समय तो कोई मनुष्य मात्र बाप को जानते ही नहीं सिवाए तुम बच्चों के। सो भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार हैं। तो हर एक खुद समझ सकते हैं कि बेहद के बाप को नहीं जानते। पुकारते हैं, भक्ति करते हैं। परन्तु बाप की बायोग्राफी किसको पता नहीं है। गाया भी जाता है कि फादर शोज़ सन, सन शोज़ फादर। अब तुम बच्चों को ही बाप का शो करना है। फादर तो अपना शो नहीं कर सकता। फादर तो बाहर नहीं जायेगा। तुम बच्चों को ही बाप का परिचय देना है। यह भी समझते हैं कि बेहद का बाप स्वर्ग का रचयिता है। उनको अगर जानते तो आश्चर्य लगता है – हम भगवान के बच्चे दु:ख में, आइरन एज में क्यों? यह प्रश्न भी तुमको पूछना है। पहला प्रश्न पूछना है तुम्हारा परमपिता परमात्मा से क्या सम्बन्ध है? पूछने वाले को तो जरूर मालूम है और कोई भी पूछता नहीं क्योंकि मालूम नहीं है। तुम कोई से भी पूछ सकते हो। यह तो कामन रीति से सब कह देते हैं ईश्वर सर्वव्यापी है। परन्तु सर्वव्यापी का तो कोई अर्थ ही नहीं। दु:ख हर्ता सुख कर्ता कहते हैं ना। दु:ख मिटाने वाला, सुख देने वाला तो एक चाहिए ना। तुम थोड़ा भी टच करेंगे (समझायेंगे) तो समझेंगे बरोबर सतयुग में सुख ही सुख था। अभी तो दु:ख ही दु:ख है। तो जरूर सबके दु:खों को बाप ने मिटाया होगा। यह तो अति सहज बात है। तुम्हारी समझ में आता है हम पारलौकिक मात-पिता के बने हैं। यह ज्ञान की बातें अभी यहाँ चलती हैं, सतयुग में नहीं चलती। वहाँ तो न ज्ञान है, न अज्ञान है। ज्ञान देने वाला वहाँ कोई है नहीं। ज्ञान से तो प्रालब्ध पा ली। तुम अभी ज्ञान से प्रालब्ध पा रहे हो, नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। देही-अभिमानी बनना बड़ी मेहनत की बात है। शिवबाबा की सर्विस में जो तत्पर रहेंगे वही देही-अभिमानी बन सकते हैं। देह-अभिमान आ जाने से फिर उनसे वह खुशबू निकल जाती है। उनकी चलन से ही सारा मालूम पड़ जाता है कि यह देह-अभिमानी है। देही-अभिमानी बहुत मीठे लवली होते हैं। हम एक बाप के बच्चे ब्रदर्स हैं। आपस में भाई-बहन भी हैं। दोनों ही श्रीमत पर एक्यूरेट चलने वाले हैं। ऐसे नहीं कि एक श्रीमत पर चले दूसरा बहाना बनाकर बैठ जाये। श्रीमत पर न चलने वाले को बाप कभी अपना बच्चा कह नहीं सकते। बाहर से भल बच्चे-बच्चे कहते हैं – परन्तु अन्दर में समझते हैं कि यह नाफरमानबरदार हैं, यह क्या पद पायेंगे। बापदादा दोनों समझ सकते हैं। श्रीमत पर अमल नहीं करते हैं। देह-अभिमान के कारण श्रीमत पर चलते नहीं हैं। देही-अभिमानी बड़े मीठे होंगे। यह आसुरी दुनिया कितनी कड़ुवी है। मात-पिता, भाई-बहन सब कड़ुवे। यहाँ भी जो देह-अभिमानी हैं, वह कड़ुवे हैं। अभी तो तुम देही-अभिमानी बन रहे हो। कोई तो सिर्फ तमोप्रधान से तमो तक आये हैं सिर्फ प्रधानता निकली है। कोई रजो तक पहुँचे हैं। सतो में तो कोई-कोई आये हैं। ऐसे नहीं कि धीरे-धीरे आते जायेंगे। कब तक धीरे-धीरे चलते रहेंगे। देही-अभिमानी को कभीं देह का अभिमान नहीं रहेगा कि यह काम मैं क्यों करूँ, इसमें मेरी इज्जत जायेगी। तुम पाकिस्तान में थे तो बाबा भी बच्चों को सिखाने के लिए सब काम करते थे कि देह-अभिमान न रहे। देह-अभिमानी बनने से सत्यानाश हो जाती है। बाहर में जो प्रजा बनने वाले हैं, उनसे भी गिर पड़ेंगे। प्रजा में जो साहूकार बनेंगे उनको भी नौकर चाकर मिलेंगे। यह तो और ही जाकर नौकर चाकर बनते हैं। इनसे तो वह साहूकार अच्छे ठहरे ना। बुद्धि से काम लिया जाता है। तो समझ में आता है जो बच्चे नहीं बनते हैं सिर्फ मददगार बनते हैं तो भी अच्छे धनवान बन जाते हैं। उन्हों को नौकरी करने की दरकार नहीं रहती। यहाँ तो नौकरी करनी पड़ती है। पिछाड़ी को करके राज्य-भाग्य (ताज) मिलेगा। सजा तो खानी पड़ती है दोनों को! इन सभी बातों को ज्ञानी तू आत्मा समझ सकते हैं। अज्ञानी देह-अभिमानी हैं। उनकी चाल ही ऐसी है। समझा जाता है कि यह कोई काम का नहीं। यहाँ तो बच्चों को श्रीमत पर चलना पड़े। नहीं तो माया बड़ा धोखा देने वाली है। झट देह-अभिमान आ जाता है। देह-अभिमान को मिटाए देही-अभिमानी बनने में ही मेहनत है। यहाँ रहने वालों को तो फिर ब्राह्मणों का संग है। बाहर तो दुनिया बहुत खराब है। ज्ञान में संग ऐसा होना चाहिए फर्स्टक्लास जो उससे पूरा रंग लगे। देह-अभिमानी का संग मिलने से एकदम मिट्टी पलीत हो जाती है। फिर फरमान पर भी नहीं चलते हैं। बाबा कहते हैं अगर हमसे आकर पूछो तो झट बतायेंगे तुम फरमानबरदार हो वा नहीं। नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार बहुत अच्छे-अच्छे हैं जो दिल को खुश करते रहते हैं। दुनिया में तो बड़ा दु:ख मारामारी है। खून-खराबी बहुत है, इनको कांटों का जंगल कहते हैं। तुमने इनसे किनारा कर लिया है। अभी तुम संगम पर हो। बुद्धि में है हम गृहस्थ व्यवहार में रहते संगम पर खड़े हैं। अभी हम कांटों से फूल बनते जा रहे हैं। कांटों से पल्लव निकलता जा रहा है। हम उन जंगली मनुष्यों से न्यारे हैं, हम रिलीजस हैं। दुनिया में रिलीजस सिर्फ तुम ही हो, वह भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। जो बाप को ही नहीं जानते वह इरिलीजस। इस समय सब इरिलीजस हैं, खास भारत। कहते भी हैं कि हम धर्म को नहीं जानते तो अधर्मी हुए ना। धर्मी और अधर्मी। पाण्डव और कौरव। पाण्डवों की स्थूल युद्ध कोई है नहीं। हमारी तो माया के साथ गुप्त युद्ध है, जिसको कोई भी जानते नहीं। हम अगर बाप को याद नहीं करेंगे तो माया का थप्पड़ लग जायेगा, तूफान आयेगा। बाप कहते हैं अभी तुम्हारा मुख है उस तरफ और पैर हैं इस तरफ। हमेशा याद करते रहना चाहिए नई दुनिया को। गृहस्थ व्यवहार में तो रहना है। बाप कहते हैं निर्बन्धन हो रहने वालों से गृहस्थ व्यवहार में रहने वालों की अवस्था अच्छी है। सब तो एक जैसे नहीं हो सकते। नम्बरवार हैं। स्कूल में कोई एक जैसा नम्बर थोड़ेही लेते हैं। यह भी बेहद का स्कूल है। बाप सब सेन्टर वाले बच्चों का ख्याल रखते हैं, इनको कहेंगे विशालबुद्धि। विशालबुद्धि तब बनेंगे जब बाप को याद करेंगे।

तुम बच्चों की अब विशालबुद्धि बनी है। तुम मूलवतन, सूक्ष्मवतन, स्थूलवतन और यह सारा चक्र कैसे फिरता है – इसे जानते हो, इसको विशालबुद्धि वा बेहद की बुद्धि कहा जाता है। मनुष्यों की है हद की। तुम्हारी बनती है बेहद की बुद्धि। तो बच्चों को बहुत मीठा बनना पड़े। जितना मीठा बनेंगे, सम्पूर्ण बनेंगे उतना वह भविष्य में अविनाशी बन जायेगा। देखना चाहिए कि हमारे में देह-अभिमान तो नहीं है? अगर कोई काम में ना करते हैं तो समझा जाता है इनमें देह-अभिमान है। सतयुग में सब देही-अभिमानी होते हैं। जानते हैं एक पुराना शरीर छोड़ नया शरीर लेना है। यहाँ तो कितना रोते हैं। देह-अभिमान है ना। देह पर बहुत प्यार है।

[wp_ad_camp_5]

 

तुम बच्चों के लिए यह दुनिया जैसे है ही नहीं। अशरीरी आये थे, अशरीरी बन जाना है। बेहद का बाप बच्चों को पढ़ाते हैं, उनका कितना रिगार्ड रखना चाहिए। बन्दर किसका रिगार्ड नहीं रखता। हाथी को भी गुर्र-गुर्र करेगा। तो जो अन्दर के कड़ुवे रहते हैं उनको बाप सपूत थोड़ेही कहेंगे। कहेंगे इससे तो बाहर रहने वाले अच्छे हैं। रिगार्ड तो रहता है। यह भी ड्रामा ही कहेंगे। आज अच्छा चल रहा है, कल माया का तूफान लग जाता है। समझते नहीं कि हम कोई तूफान में हैं। बड़े-बड़े को भी तूफान तो लगते हैं ना। फिर भी ड्रामा कहा जाता। हम शिवबाबा से वर्सा लेते हैं, यह भूलने से खाना बरबाद हो जायेगा। खाना आबाद होगा शिवबाबा के भण्डारे से। इनको भूला तो झोली खाली हो जायेगी। प्रजा में भी साधारण पद पायेंगे। सजा तो बहुत खायेंगे। खुद छोड़ने से फिर औरों को भी संशयबुद्धि बनाते हैं। बाबा को तो तरस पड़ता है। परन्तु माया का वार सहन नहीं कर सकते हैं। उस्ताद सिखलाते तो बहुत हैं। अचल-अडोल रहना है। नहीं रहते हैं तो बाबा समझते हैं अजुन सिल्वर एज तक भी नहीं पहुँचे हैं। वन्डर लगता है। ज्ञान पूरा न होने कारण, शिवबाबा से योग न होने कारण गिर पड़ते हैं। तूफान तो क्या-क्या लगते हैं। चढ़ना और गिरना – यह तो होता ही है। गिर गया तो फिर उठ खड़ा होना चाहिए ना। हमारा काम शिवबाबा से है। कुछ भी है हमको वर्सा शिवबाबा से लेना है। मम्मा बाबा भी उनसे ही लेते हैं, उनको ही याद करना है। उनकी मुरली सुननी है। नहीं तो कहाँ जायेंगे। हट्टी तो एक ही है ना। यहाँ आये बिगर मुक्ति-जीवनमुक्ति मिल न सके। बाप के सामने तो आना है ना। हाँ, कोई बांधेली है, बाबा की याद में मर पड़ती है तो वह भी अच्छा पद पा लेती है। यहाँ जो देह-अभिमान में आकर अवज्ञा कर लेते हैं, उससे उसका पद अच्छा क्योंकि बाबा की याद में मरी ना। अच्छा सौभाग्य है ना। इस ज्ञान मार्ग में कोई और तकलीफ नहीं है। बड़ा सहज है। यहाँ देही-अभिमानी बहुत बनना है। बहुत देह-अभिमान में रहते हैं। बाबा तो और कुछ कहते नहीं सिर्फ दिल से अन्दर तरस पड़ता है। शिवबाबा के भण्डारे से शरीर निर्वाह करते हैं। यज्ञ की सम्भाल कुछ नहीं करते हैं तो पद क्या पायेंगे? इस यज्ञ की तो बहुत सम्भाल करनी है। जहाँ भी सेन्टर्स स्थापन होते हैं, वह शिवबाबा का ही यज्ञ है। इस यज्ञ रचने के लिए सिर्फ 3 पैर पृथ्वी चाहिए। बस। कोई बूढ़े हैं, खुद समझा नहीं सकते हैं। अच्छा फिर कोई बहनें वा भाई को बुलाओ। एक छोटा कमरा बना दो और बोर्ड लगा दो। बड़ा पुण्य का काम है। अभी कलियुग है, विनाश सामने खड़ा है। बाप से जरूर स्वर्ग का वर्सा लेना है। स्वर्ग का वर्सा मिलता ही है संगम पर, जबकि पुरानी दुनिया खत्म होती है, नई दुनिया स्थापन होती है। संगम पर वर्सा मिलता है जो फिर भविष्य के लिए अविनाशी हो जाता है। तुम बहुत समझा सकते हो। सिर्फ 3 पैर पृथ्वी चाहिए। बस। एक दो को उठाया तो भी अहो सौभाग्य। तुम एक ही मंत्र देते हो – मन्मनाभव। सिर्फ कहते हो बाप को याद करो तो अन्त मती सो गति हो जायेगी। बाप स्वर्ग का खजाना देते हैं। सुना, बस बुद्धि में बैठा। स्वर्ग में आने लायक बन गया। जगह देने वाले को हक मिल जाता है। बाबा इतना सहज करके बताते हैं। कोई को सुखधाम का रास्ता बताओ। प्रजा बनी वह भी अच्छा। नम्बरवार बनते जायेंगे। 3 पैर पृथ्वी का मशहूर है, इससे तुम विश्व के मालिक बनते हो। प्रजा भी कहेगी ना – हम विश्व के मालिक हैं। यह (मकान) भी 3 पैर पृथ्वी है ना! शुरू भी 3 पैर पृथ्वी से हुआ। एक कोठी थी फिर धीरे-धीरे बड़ा बनता गया। ऐसे बहुत आयेंगे जिनको बाबा कहेंगे तुम ऐसे पैसे क्या करेंगे? तुमको बहुत अच्छी राय देते हैं कि 3 पैर पृथ्वी की ले लो। 10-15 हॉस्पिटल, कॉलेज खोलो। अपने गांव में मकान किराये पर ले लो। यह तो सब खत्म हो ही जायेगा। इससे तो इस खर्चे में 10-15 सेन्टर खोलो तो बहुतों का कल्याण हो जायेगा। तुम बहुत धनवान हो जायेंगे। तुम छोटी सी जगह में यह कॉलेज खोल सकते हो। तुमको सिर्फ रास्ता बताना है, अन्धों की लाठी बनना है। जगाना पड़ता है। बाप और वर्से को याद करो तो बस तुम्हारा बेड़ा पार है। और कोई खर्चे आदि की बात ही नहीं। बेहद के बाप से बेहद का वर्सा लेंगे। समझाना बड़ा सहज है। अच्छा !

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) फर्स्टक्लास ज्ञानी तू आत्माओं का संग करना है। देही-अभिमानी बनना है। देह-अभिमानियों के संग से दूर रहना है।

2) यज्ञ की बहुत प्यार से, सच्चे दिल से सम्भाल करनी है। बहुत लवली मीठा बनना है। सपूत बनकर दिखाना है। कोई भी अवज्ञा नहीं करनी है।

वरदान:- परमात्म प्यार के आधार पर दुख की दुनिया को भूलने वाले सुख-शान्ति सम्पन्न भव 
परमात्म प्यार ऐसा सुखदाई है जो उसमें यदि खो जाओ तो यह दुख की दुनिया भूल जायेगी। इस जीवन में जो चाहिए वो सर्व कामनायें पूर्ण कर देना – यही तो परमात्म प्यार की निशानी है। बाप सुख-शान्ति क्या देता लेकिन उसका भण्डार बना देता है। जैसे बाप सुख का सागर है, नदी, तलाव नहीं ऐसे बच्चों को भी सुख के भण्डार का मालिक बना देता है, इसलिए मांगने की आवश्यकता नहीं, सिर्फ मिले हुए खजाने को विधि पूर्वक समय प्रति समय कार्य में लगाओ।
स्लोगन:- अपनी सर्व जिम्मेवारियों का बोझ बाप हवाले कर डबल लाइट बनो।

[wp_ad_camp_5]

 

To Read Murli 13 August 2017 :- Click Here

 

Font Resize