14 july ki murli

TODAY MURLI 14 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 14 July 2020

14/07/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, only when a body has a soul inside it does it have any value. However, it is the body that is decorated, not the soul.
Question: What is the duty of you children? What service do you have to do?
Answer: Your duty is to show your equals the way to change from an ordinary woman or man into Lakshmi or Narayan. You now have to do true spiritual service of Bharat. Each of you has received a third eye of knowledge. Therefore, your intellects and behaviour should be very refined. There shouldn’t be the slightest attachment to anyone.
Song: Show the path to the blind dear God!

Om shanti. Double Om shanti. You children have to respond with “Om shanti. Our original religion is peace. You would not go anywhere else to find peace. Human beings go to sages and holy men to attain peace of mind. However, the mind and intellect are organs of the soul. Just as these organs are of the body, so, the mind, the intellect and this eye too are organs of souls. This eye is not like physical eyes. People say: O God, show the path to the blind! One has no experience of the Father’s love by saying “Prabhu” or “Ishwar”. Children receive an inheritance from their father. You are sitting here in front of the Father, and you are also studying. Who is teaching you? You would not say that the Supreme Soul or Prabhu is teaching you. You would say that Shiv Baba is teaching you. The word “Baba” is very simple, and it is BapDada. A soul is called a soul. In the same way, He is the Supreme Soul. He says: I am the Supreme Soul, that is, I am God, your Father. Then, according to the drama, I, the Supreme Soul, have been given the name Shiva. Everyone in the drama has to have a name. There is also the temple to Shiva. Instead of just the one name, people on the path of devotion have given many names. They continue to build many temples, but He is the same One. The Somnath Temple is so large. It has been decorated so much. The palaces etc. are also decorated a great deal. Just as souls cannot be decorated, in the same way, the Supreme Soul cannot be decorated; He is just a point. All the decoration is only of the body. The Father says: Neither am I decorated nor are souls decorated. Souls are just points. Such a tiny point cannot play a part. When a tiny soul enters a body, the body is decorated in so many different ways. Human beings have so many names. Kings and queens are decorated so much, souls are simple points. You children have now understood that it is souls that imbibe knowledge. The Father says: I too have knowledge. The body does not have knowledge. I, the soul, have knowledge. I have to take a body in order to speak this knowledge to you. You cannot hear it without a body. The song, “Show the path to the blind dear God”, has been composed. Is it bodies that have to be shown the path? No, souls have to be shown the path. It is souls that call out. A body has two eyes; it cannot have three eyes. The third eye is symbolised by a tilak on the forehead. Some just put a dot and others draw a line. The dot symbolises the soul. Each of you receives a third eye of knowledge. Previously, none of you souls had a third eye of knowledge. No human being has this knowledge. This is why they are said to be without the eye of knowledge. Although everyone has physical eyes, no one in the whole world has a third eye. You are the most elevated Brahmin clan. You know how much difference there is between the path of devotion and the path of knowledge. By knowing the knowledge of the Creator and the beginning, the middle and the end of creation, you become rulers of the globe. Those who study for the I.C.S. claim a very high status. However, here, you don’t become an M.P. etc. by studying. Here, M.P.s are elected; they become M.P.s etc. on the basis of the votes they receive. You souls are now receiving shrimat from the Father. No one else can say: I am giving directions to souls. All of them are body conscious. Only the Father comes and teaches you to become soul conscious. All are body conscious. Human beings take so much pride in their bodies. Here, the Father only looks at souls. Bodies are perishable, not worth a penny! At least the skins of animals can be sold. The bodies of human beings are of no use at all! The Father now comes and makes you worth a pound. You children know that you are now becoming deities. Therefore, you should have the intoxication of that. However, your intoxication remains numberwise according to the effort each of you makes. People have intoxication of wealth too. You children are now becoming very wealthy; you are earning huge incomes. You are praised in many ways. You are creating the garden of flowers. The golden age is called the garden of flowers. No one knows when that sapling is planted. The Father is explaining to you. People call out: O Master of the Garden, come! He would not be called the Gardener. You children who look after centres are called gardeners. There are many types of gardener. There is only the one Master of the Garden. The gardener of the Mughal Gardens must receive a very high salary. He has created such beautiful gardens that everyone goes there to see them. The Mughals were very fond of such things. When the wife of Shah Jahan died, he built the Taj Mahal in memory of her. Their names are still remembered. They have created such beautiful memorials. So, the Father explains that human beings are praised so much. Human beings are human beings. Many human beings die in war. Then, what is done to them? Petrol or kerosene is poured on all the bodies to burn them. Some remain lying there just like that; they are not buried; there is no respect at all. You children should now have the intoxication of becoming Narayan. This is the intoxication of becoming a master of the world. This is the story of the true Narayan. Therefore, you would definitely become Narayan. Each of you souls receives a third eye of knowledge. It is the Father who gives it. There is also the story of the third eye. The Father sits here and explains the meaning of all these stories. Those who relate these stories don’t know anything at all. They also tell the story of immortality. They go so far to Amarnath. The Father comes here and tells you this story. He doesn’t relate it from up above. It wasn’t that He sat up there and related the story of immortality to Parvati. All the devotional stories that have been made up are fixed in the drama. That will happen again. The Father sits here and shows you children the contrast between knowledge and devotion. You have now each received a third eye of knowledge. They say: O God, show the path to the blind! They call out on the path of devotion. The Father comes and gives each of you a third eye of knowledge. No one except you knows about this. Someone who doesn’t have a third eye of knowledge is called one-eyed or half blind. The eyes of people are different from one another. Some people’s eyes are very beautiful. They are given prizes because of their beauty. They are called “Miss India” or “Miss So-and-so”. Look what the Father is now making you children into from what you were. There is natural beauty there. Why is Krishna praised so much? Because he becomes the most beautiful one of all. He claims the number one karmateet stage. This is why his praise is number one. The Father sits here and explains all of this to you. The Father says again and again: Children, “Manmanabhav!” O souls, remember your Father! It is numberwise amongst you children too. For instance, when a father has five children, if one is very sensible, he would be number one. They would be like beads of a rosary. He would say: This one is the second number and this one is the third number. They can never all be the same. The father’s love for them would also be numberwise. That is a limited aspect. Here, it is an unlimited aspect. The behaviour and intellects of the children who have received a third eye of knowledge are very refined. There is the king flower. Similarly, this Brahma and Saraswati are the king and queen flowers. They are clever in both knowledge and yoga. You know that you are becoming deities. Eight main ones become the eight jewels. First of all, there is the Flower, the tassel. Then there is the dual-bead, Brahma and Saraswati. People turn the beads of a rosary. In fact, you are not worshipped; you are only remembered. Flowers mustn’t be offered to you. Flowers can only be offered when bodies are pure. Here, no one’s body is pure. Everyone is born through the poison of vice and this is why they are called vicious. Lakshmi and Narayan are said to be completely viceless. Children will be born there too; it isn’t that babies will be born in tubes. All of these things have to be understood. You children are made to sit here in a bhatthi for seven days. Some bricks are made very strong in a furnace, whereas others remain weak. The example of the furnace is given. How could bricks in a furnace be mentioned in the scriptures? Then, the story of the kittens is also mentioned. There is also the story of Gul-Bakavli that mentions a cat. The cat extinguishes the lamp. The same happens to you! Maya, the cat, causes obstacles. She makes your stage fall. Body consciousness is number one, and then the other vices follow. There is also a lot of attachment. A daughter would say: I will do spiritual service to make Bharat into heaven, but, because of their attachment, the parents would say: We won’t allow this. There is so much attachment! You mustn’t become a cat of attachment. The Father comes and makes you into a deity from an ordinary human, Narayan from an ordinary man. This is your aim and objective. Your duty is to serve your equals and to serve Bharat. You know what you were and what you have now become. Now make effort once again to become a king of kings. You know that you are establishing your own kingdom. There is no question of difficulty in this. The way destruction will take place is created in the drama. Previously, too, there was the war with missiles. Destruction will take place when all your preparations are made and all of you have become flowers. Someone is a king of flowers, others are roses and others are jasmine. Each of you can understand for yourself whether you are an uck flower or another type of flower. There are many who are unable to imbibe any knowledge at all. Everyone is numberwise: from being completely the highest they would become completely the lowest. The kingdom is created here. In the scriptures, the Pandavas have been portrayed melting away. Nothing is known of what happened afterwards. Many stories have been written, but nothing like that happened. The intellects of you children are now becoming so clean. Baba continues to explain to you in many different ways. It is so easy! Simply remember the Father and your inheritance. The Father says: I alone am the Purifier. Both you, the souls, and your bodies are impure. You now have to become pure. When a soul becomes pure, the body too becomes pure. You have to make a lot of effort. The Father says: Some children are very weak. They forget to remember the Father. Baba relates his own experience: While having my meal, I remember that Shiv Baba is feeding me. Then, I forget and I then suddenly remember again. You too are numberwise, according to the effort you make. Some are free from bondage, but they then become trapped. They even adopt children. You children have now found the Father who gives each of you a third eye of knowledge. They have referred to this as the story of receiving the third eye. You are now becoming theists from atheists. You children know that the Father is a point. He is the Ocean of Knowledge. People say that He is beyond name and form. Oh! but since He is the Ocean of Knowledge, He would definitely be the One who speaks that knowledge. His form is also shown as an oval image. Therefore, how could He be beyond name and form? He has been given hundreds of names. All of this knowledge should remain in the intellects of you children very well. It is said that God is the Ocean of Knowledge. Even if the whole forest were made into pens and the ocean into ink, there would be no end to the knowledge. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You have now been made worth a pound by the Father. You are going to become deities. Therefore, maintain the intoxication of becoming like Narayan. Become free from bondage and do service. Don’t become trapped by any bondage.
  2. Become clever in knowledge and yoga and become a king of flowers like the mother and father. Also serve your equals.
Blessing: May you be a world server who remains free from the web of any questions such as “Why?” and “What?” and become a ruler of the globe
When the discus of self-realisation spins the wrong way instead of the right way, then, instead of becoming a conqueror of Maya, you get caught up in the spinning of confusion of looking at others with which the web of questions such as “Why?” and “What?” is created. You yourself create it and then you yourself become trapped in it. So, be knowledge-full and continue to spin the discus of self-realisation and you will become free from any web of any questions “Why?” or “What?” You will become yogyukt, liberated in life and a ruler of the globe and you will continue to tour around with the Father doing the service of world benefit. By becoming a world server you will become a king who rules the globe.
Slogan: Put your plans into a practical form with a plain intellect and success will be merged in that.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 14 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

14-07-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – इस शरीर की वैल्यु तब है जब इसमें आत्मा प्रवेश करे, लेकिन सजावट शरीर की होती, आत्मा की नहीं”
प्रश्नः- तुम बच्चों का फ़र्ज क्या है? तुम्हें कौन-सी सेवा करनी है?
उत्तर:- तुम्हारा फ़र्ज है – अपने हमजिन्स को नर से नारायण, नारी से लक्ष्मी बनने की युक्ति बताना। तुम्हें अब भारत की सच्ची रूहानी सेवा करनी है। तुम्हें ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है तो तुम्हारी बुद्धि और चलन बड़ी रिफाइन होनी चाहिए। किसी में मोह ज़रा भी न हो।
गीत:- नयन हीन को राह दिखाओ……….

ओम् शान्ति। डबल शान्ति। तुम बच्चों को रेसपान्ड करना चाहिए ओम् शान्ति। हमारा स्वधर्म है शान्ति। तुम अभी शान्ति के लिए थोड़ेही कहाँ जायेंगे। मनुष्य मन की शान्ति के लिए साधू-सन्तों के पास भी जाते हैं ना। अब मन-बुद्धि तो हैं आत्मा के आरगन्स। जैसे यह शरीर के आरगन्स हैं वैसे मन, बुद्धि और चक्षु। अब चक्षु जैसे यह नयन हैं, वैसे वह नहीं हैं। कहते हैं – हे प्रभू, नयन हीन को राह बताओ। अब प्रभू वा ईश्वर कहने से वह बाप का लव नहीं आता है। बाप से तो बच्चों को वर्सा मिलता है। यहाँ तो तुम बाप के सामने बैठे हो। पढ़ते भी हो। तुमको कौन पढ़ाते हैं? तुम ऐसे नहीं कहेंगे कि परमात्मा वा प्रभू पढ़ाते हैं। तुम कहेंगे शिवबाबा पढ़ाते हैं। बाबा अक्षर तो बिल्कुल सिम्पल है। है भी बापदादा। आत्मा को आत्मा ही कहा जाता है, वैसे वह परम आत्मा है। वह कहते हैं मैं परम आत्मा यानी परमात्मा तुम्हारा बाप हूँ। फिर मुझ परम आत्मा का ड्रामा अनुसार नाम रखा हुआ है शिव। ड्रामा में सबका नाम भी चाहिए ना। शिव का मन्दिर भी है। भक्ति मार्ग वालों ने तो एक के बदले अनेक नाम रख दिये हैं। और फिर ढेर के ढेर मन्दिर बनाते रहते हैं। चीज़ एक ही है। सोमनाथ का मन्दिर कितना बड़ा है, कितना सजाते हैं। महलों आदि की भी कितनी सजावट रखते हैं। आत्मा की तो कोई सजावट नहीं है, वैसे परम आत्मा की भी सजावट नहीं है। वह तो बिन्दी है। बाकी जो भी सजावट है, वह शरीरों की है। बाप कहते हैं – न हमारी सजावट है, न आत्माओं की सजावट है। आत्मा है ही बिन्दी। इतनी छोटी बिन्दी तो कुछ पार्ट बजा न सके। वह छोटी-सी आत्मा शरीर में प्रवेश करती है तो शरीर की कितने प्रकार की सजावट होती है। मनुष्यों के कितने नाम हैं। किंग क्वीन की सजावट कैसे होती है, आत्मा तो सिम्पुल बिन्दी है। अभी तुम बच्चों ने यह भी समझा है। आत्मा ही ज्ञान धारण करती है। बाप कहते हैं मेरे में भी ज्ञान है ना। शरीर में थोड़ेही ज्ञान होता है। मुझ आत्मा में ज्ञान है, मुझे यह शरीर लेना पड़ता है तुमको सुनाने के लिए। शरीर बिगर तो तुम सुन न सको। अब यह गीत बनाया है, नयन हीन को राह बताओ…… क्या शरीर को राह बतानी है? नहीं। आत्मा को। आत्मा ही पुकारती है। शरीर को तो दो नेत्र हैं। तीन तो हो न सकें। तीसरे नेत्र का यहाँ (मस्तक में) तिलक भी देते हैं। कोई सिर्फ बिन्दी मुआफिक देते हैं, कोई लकीर निकालते हैं। बिन्दी तो है आत्मा। बाकी ज्ञान का तीसरा नेत्र मिलता है। आत्मा को पहले यह ज्ञान का तीसरा नेत्र नहीं था। कोई भी मनुष्य मात्र को यह ज्ञान नहीं है, इसलिए ज्ञान नेत्रहीन कहा जाता है। बाकी यह आंखे तो सबको हैं। सारी दुनिया में कोई को यह तीसरा नेत्र नहीं है। तुम हो सर्वोत्तम ब्राह्मण कुल के। तुम जानते हो भक्ति मार्ग और ज्ञान मार्ग में कितना फ़र्क है। तुम रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानकर चक्रवर्ती राजा बनते हो। जैसे आई. सी. एस. वाले भी बहुत ऊंचा पद पाते हैं। परन्तु यहाँ कोई पढ़ाई से एम.पी. आदि नहीं बनते हैं। यहाँ तो चुनाव होते हैं, वोट्स पर एम.पी. आदि बनते हैं। अभी तुम आत्माओं को बाप की श्रीमत मिलती है। और कोई भी ऐसे नहीं कहेंगे कि हम आत्मा को मत देते हैं। वह तो सब हैं देह-अभिमानी। बाप ही आकर देही-अभिमानी बनना सिखलाते हैं। सब हैं देह-अभिमानी। मनुष्य शरीर का कितना भभका रखते हैं। यहाँ तो बाप आत्माओं को ही देखते हैं। शरीर तो विनाशी, वर्थ नाट ए पेनी है। जानवरों की तो फिर भी खाल आदि बिकती है। मनुष्य का शरीर तो कोई काम में नहीं आता। अब बाप आकर वर्थ पाउण्ड बनाते हैं।

तुम बच्चे जानते हो कि अभी हम सो देवता बन रहे हैं तो यह नशा चढ़ा रहना चाहिए। परन्तु यह नशा भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार रहता है। धन का भी नशा होता है ना। अभी तुम बच्चे बहुत धनवान बनते हो। तुम्हारी बहुत कमाई हो रही है। तुम्हारी महिमा भी अनेक प्रकार की है। तुम फूलों का बगीचा बनाते हो। सतयुग को कहा जाता है गार्डन ऑफ फ्लावर्स। इसका सैपलिंग कब लगता है – यह भी किसको पता नहीं। तुमको बाप समझाते हैं। बुलाते भी हैं – हे बागवान आओ। उनको माली नहीं कहेंगे। माली तुम बच्चे हो जो सेन्टर्स सम्भालते हो। माली अनेक प्रकार के होते हैं। बागवान एक ही है। मुगल गार्डन के माली को पगार भी इतना बड़ा मिलता होगा ना। बगीचा ऐसा सुन्दर बनाते हैं जो सब देखने आते हैं। मुगल लोग बहुत शौकीन होते थे, उनकी स्त्री मरी तो ताजमहल बनाया। उनका नाम चला आता है। कितने अच्छे-अच्छे यादगार बनाये हैं। तो बाप समझाते हैं, मनुष्य की कितनी महिमा होती है। मनुष्य तो मनुष्य ही हैं। लड़ाई में ढेर के ढेर मनुष्य मरते हैं फिर क्या करते हैं। घासलेट, पेट्रोल डाल खलास कर देते हैं। कोई तो ऐसे ही पड़े रहते हैं। दफन थोड़ेही करते हैं। कुछ भी मान नहीं। तो अब तुम बच्चों को कितना नारायणी नशा चढ़ना चाहिए। यह है विश्व के मालिकपने का नशा। सत्य नारायण की कथा है तो जरूर नारायण ही बनेंगे। आत्मा को ज्ञान का तीसरा नेत्र मिलता है। देने वाला है बाप। तीजरी की कथा भी है। इन सबका अर्थ बाप बैठ समझाते हैं। कथा सुनाने वाले कुछ भी नहीं जानते। अमरकथा भी सुनाते हैं। अब अमरनाथ पर कहाँ दूर-दूर जाते हैं। बाप तो यहाँ आकर सुनाते हैं। ऊपर तो सुनाते नहीं हैं। वहाँ थोड़ेही पार्वती को बैठ अमरकथा सुनाई। यह कथायें आदि जो बनाई हैं – यह भी ड्रामा में नूँध हैं। फिर भी होगा। बाप बैठ तुम बच्चों को भक्ति और ज्ञान का कान्ट्रास्ट बताते हैं। अभी तुमको ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है। कहते हैं ना – हे प्रभू, अन्धों को राह बताओ। भक्ति मार्ग में पुकारते हैं। बाप आकर तीसरा नेत्र देते हैं जिसका कोई को पता नहीं है सिवाए तुम्हारे। ज्ञान का तीसरा नेत्र नहीं है तो कहेंगे चूँचा, धुंधकारी। आंखें भी कोई की कैसी, कोई की कैसी होती है ना। कोई की बहुत शोभावान आंखें होती हैं। फिर उस पर इनाम भी मिलता है फिर नाम रखते हैं मिस इन्डिया, मिस फलानी। तुम बच्चों को अब बाप क्या से क्या बनाते हैं। वहाँ तो नैचुरल ब्युटी रहती है। कृष्ण की इतनी महिमा क्यों है? क्योंकि सबसे जास्ती ब्युटीफुल बनते हैं। नम्बरवन में कर्मातीत अवस्था को पाते हैं, इसलिए नम्बरवन में गायन है। यह भी बाप बैठ समझाते हैं। बाप बार-बार कहते हैं – बच्चे, मनमनाभव। हे आत्मायें अपने बाप को याद करो। बच्चों में भी नम्बरवार तो हैं ना। लौकिक बाप को भी समझो 5 बच्चे हैं, उनमें जो बहुत सयाना होगा उनको नम्बरवन रखेंगे। माला का दाना हुआ ना। कहेंगे यह दूसरा नम्बर है, यह तीसरा नम्बर है। एक जैसे कभी नहीं होते हैं। बाप का प्यार भी नम्बरवार होता है। वह है हद की बात। यह है बेहद की बात।

जिन बच्चों को ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है उनकी बुद्धि और चलन आदि बड़ी रिफाइन होती है। एक किंग ऑफ फ्लावर होता है तो यह ब्रह्मा और सरस्वती किंग क्वीन फ्लावर ठहरे। ज्ञान और याद दोनों में तीखे हैं। तुम जानते हो हम देवता बनते हैं। मुख्य 8 रत्न बनते हैं। पहले-पहले है फूल। फिर युगल दाना ब्रह्मा-सरस्वती। माला सिमरते हैं ना। वास्तव में तुम्हारा पूजन नहीं है, सिमरण है। तुम्हारे ऊपर फूल नहीं चढ़ सकते हैं। फूल तब चढ़े जब शरीर भी पवित्र हो। यहाँ कोई का भी शरीर पवित्र नहीं है। सब विष से पैदा होते हैं, इसलिए विकारी कहा जाता है। इन लक्ष्मी-नारायण को कहते ही है सम्पूर्ण निर्विकारी। बच्चे तो पैदा होते होंगे ना। ऐसे तो नहीं कोई ट्यूब से बच्चा पैदा हो जायेगा। यह भी सब समझने की बातें हैं। तुम बच्चों को यहाँ 7 रोज़ भट्ठी में बिठाया जाता है। भट्ठी में ईटें कोई तो पूरी पक जाती हैं, कोई कच्ची रह जाती हैं। भट्ठी का मिसाल देते हैं। अब ईट की भट्ठी का थोड़ेही शास्त्रों में वर्णन हो सकता है। फिर उसमें बिल्ली की भी बात है। गुलबकावली की कहानी में भी बिल्ली का नाम दिखाया है। दीवे (दीपक) को बुझा देती थी। तुम्हारा भी यह हाल होता है ना। माया बिल्ली विघ्न डाल देती है। तुम्हारी अवस्था को ही गिरा देती है। देह-अभिमान है पहला नम्बर फिर और विकार आते हैं। मोह भी बहुत होता है। बच्ची कहे मैं भारत को स्वर्ग बनाने की रूहानी सेवा करूँगी, मोह वश माँ-बाप कहते हम एलाऊ नहीं करेंगे। यह भी कितना मोह है। तुम्हें मोह की बिल्ली या बिल्ला नहीं बनना है। तुम्हारी एम आबजेक्ट ही यह है। बाप आकर मनुष्य से देवता, नर से नारायण बनाते हैं। तुम्हारा भी फ़र्ज है अपने हमजिन्स की सेवा करना, भारत की सर्विस करना। तुम जानते हो हम क्या थे, क्या बन गये हैं। अब फिर पुरूषार्थ करो राजाओं का राजा बनने के लिए। तुम जानते हो हम अपना राज्य स्थापन करते हैं। कोई तकलीफ की बात नहीं। विनाश के लिए भी ड्रामा में युक्ति रची हुई है। आगे भी मूसलों से लड़ाई लगी थी। जब तुम्हारी पूरी तैयारी हो जायेगी, सब फूल बन जायेंगे तब विनाश होगा। कोई किंग ऑफ फ्लावर हैं, कोई गुलाब, कोई मोतिया हैं। हर एक अपने को अच्छी रीति समझ सकते हैं कि हम अक हैं वा फूल हैं? बहुत हैं जिनको ज्ञान की कुछ धारणा नहीं होती है। नम्बरवार तो बनेंगे ना। या तो बिल्कुल हाइएस्ट, या तो बिल्कुल लोएस्ट। राजधानी यहाँ ही बनती है। शास्त्रों में तो दिखाया है पाण्डव गल मरे फिर क्या हुआ, कुछ भी पता नहीं। कथायें तो बहुत बनाई हैं, ऐसी कोई बात है नहीं। अभी तुम बच्चे कितने स्वच्छ बुद्धि बनते हो। बाबा तुमको बहुत प्रकार से समझाते रहते हैं। कितना सहज है। सिर्फ बाप को और वर्से को याद करना है। बाप कहते हैं मैं ही पतित-पावन हूँ। तुम्हारी आत्मा और शरीर दोनों पतित हैं। अब पावन बनना है। आत्मा पवित्र बनती है तो शरीर भी पवित्र बनता है। अभी तुमको बहुत मेहनत करनी है। बाप कहते हैं – बच्चे बहुत कमज़ोर हैं। याद भूल जाती है। बाबा खुद अपना अनुभव बताते हैं। भोजन पर याद करता हूँ – शिवबाबा हमको खिलाते हैं फिर भूल जाते हैं। फिर स्मृति में आता है। तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार हैं। कोई तो बन्धनमुक्त होते हुए भी फिर फँस मरते हैं। धर्म के भी बच्चे बना देते हैं। अभी तुम बच्चों को ज्ञान का तीसरा नेत्र देने वाला बाप मिला हुआ है – इनको फिर नाम दिया है तीजरी की कथा अर्थात् तीसरा नेत्र मिलने की कथा। अब तुम नास्तिक से आस्तिक बनते हो। बच्चे जानते हैं बाप बिन्दी है। ज्ञान का सागर है। वह तो कह देते नाम-रूप से न्यारा है। अरे, ज्ञान का सागर तो जरूर ज्ञान सुनाने वाला होगा ना। इनका रूप भी लिंग दिखाते हैं फिर उनको नाम-रूप से न्यारा कैसे कहते! सैकड़ों नाम रख दिये हैं। बच्चों की बुद्धि में यह सारा ज्ञान अच्छी रीति रहना चाहिए। कहते भी हैं परमात्मा ज्ञान का सागर है। सारा जंगल कलम बनाओ तो भी अन्त नहीं हो सकता है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अभी हम बाप द्वारा बर्थ पाउण्ड बने हैं, हम सो देवता बनने वाले हैं, इसी नारायणी नशे में रहना है, बन्धन-मुक्त बन सेवा करनी है। बन्धनों में फंसना नहीं है।

2) ज्ञान-योग में तीखे बन मात-पिता समान किंग आफ फ्लावर बनना है और अपने हमजिन्स की भी सेवा करनी है।

वरदान:- क्यों, क्या के क्वेश्चन की जाल से सदा मुक्त रहने वाले विश्व सेवाधारी चक्रवर्ती भव
जब स्वदर्शन चक्र राइट तरफ चलने के बजाए रांग तरफ चल जाता है तब मायाजीत बनने के बजाए पर के दर्शन के उलझन के चक्र में आ जाते हो जिससे क्यों और क्या के क्वेश्चन की जाल बन जाती है जो स्वयं ही रचते और फिर स्वयं ही फंस जाते इसलिए नॉलेजफुल बन स्वदर्शन चक्र फिराते रहो तो क्यों क्या के क्वेश्चन की जाल से मुक्त हो योगयुक्त, जीवनमुक्त, चक्रवर्ती बन बाप के साथ विश्व कल्याण की सेवा में चक्र लगाते रहेंगे। विश्व सेवाधारी चक्रवर्ती राजा बन जायेंगे।
स्लोगन:- प्लेन बुद्धि से प्लैन को प्रैक्टिकल में लाओ तो सफलता समाई हुई है।

TODAY MURLI 14 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 14 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 13 July 2019:- Click Here

14/07/19
Madhuban
Mateshwari
Om Shanti
31/12/84

Show the sparkle of newness through the new knowledge and new life.

Today, all the children from everywhere are present at this highest and holiest new spiritual gathering in their corporeal or angelic forms to celebrate the New Year with BapDada, who gives new life in the new age with this new knowledge. All the children’s zeal and enthusiasm in their hearts, their pure thoughts of promising to bring about transformation, their good wishes and pure feelings have all reached BapDada. BapDada gives greetings for all time to all the creators, the special world-transformer souls, the ones who always stay beyond the awareness of old sanskars, old memories, old attitude and awareness of the old bodies of this old world, and to those who bid farewell to all the old things. He congratulates those who put a full stop to the past and apply a tilak of self-sovereignty. Along with congratulating you for bidding farewell, Baba is also giving all the children a special gift for the New Year: “May you always remain in the Father’s company. May you also be equal. May you always have the elevated spiritual intoxication of being seated on the heart-throne.” Baba is giving the gift of this blessing.

Throughout the whole year, let there be this powerful awareness: You are with the Father, you are equal to the Father and you will automatically continue to experience congratulations at every moment for bidding farewell in every thought. If you haven’t bidden farewell to the old, you cannot experience congratulations for newness. This is why, just as today, you bid farewell to the old world, in the same way, together with the year, whatever old things Baba has told you about, also bid farewell to all of those. This is the new age, the beautiful new world of Brahmins, new relationships and a new family. There are new attainments. Everything is new. When you look at others, you look at the spirit with spiritual vision. You only think of spiritual things. Therefore, everything is new, is it not? The systems are new and the love is new, everything is new. So, constantly have congratulations for newness. These are called spiritual congratulations, they are not for just one day, but you constantly continue to move forward with spiritual congratulations. You are being sustained and you move along with the congratulations and spiritual blessings of BapDada and the whole Brahmin family. No one in the world can celebrate such a New Year. They celebrate for a temporary period. You celebrate it eternally, for all time. There, they are human souls celebrating with human beings, whereas you elevated souls celebrate with God, the Father. You celebrate with the Bestower of Fortune and the Bestower of Blessings. This is why, to celebrate is to fill your aprons for all time with treasures and blessings. Theirs is celebrating and losing, whereas here, you fill your aprons. This is why you celebrate it with BapDada, is it not? Those people say “Happy New Year” and you say “Ever Happy New Year”. It isn’t that, today, you are happy and tomorrow, a situation of sorrow makes you unhappy. No matter what type of sorrowful situation comes, even at such a time, with your stage of being an embodiment of happiness and peace, you play the parts of bestowers, master oceans of happiness and give rays of peace and happiness to everyone. This is why you remain beyond any influence of sorrowful situations and you constantly experience being everhappy. So, what newness will you put into this New Year? You will have conferences and melas. Everyone is now already tired of all those old customs and systems and old ways and activities. Everyone feels that something new should happen. They are unable to understand what newness there should be or how it should take place. Give an experience of the sparkle of newness through this new knowledge and new life to those who desire some newness. They do at least understand that this is good. However, as yet, the experience that this is new and that it is this new knowledge which is bringing about the new world is incognito. They say that it should happen. In order to fulfil their desire, put the practical example of new life in front of them in a practical way through which they can experience a new sparkle. Therefore, reveal the new knowledge. When newness is experienced through the life of every Brahmin, they will be able to have a glimpse of the new world. Whatever programme you have, aim to let everyone experience newness. Instead of them making the remark “This too is good work”, let them have an experience that this new knowledge will bring about the new world. Do you understand? Spread the wave of experiencing the establishment of the new world. “The new world is about to come, that is, the time for all of us to receive the fruit of our good wishes has come.” Let such zeal and enthusiasm be created in their minds. In place of hopelessness, ignite deepaks (earthenware lamps) of good wishes in them. When any big day is celebrated, they ignite deepaks. Nowadays, they have royal candles. Therefore, ignite this deepak in everyone’s mind. Celebrate such a New Year. Give everyone the gift of the fruit of elevated feelings. Achcha.

To those who constantly give others a glimpse of the new life and the new age, to those who give greetings of new zeal and enthusiasm, to those who make everyone everhappy, to those who give the world the experience of the new creation, to all the most elevated new age transformers, world benefactors, to those who constantly experience the Father’s company, to the children who are constant companions of the Father, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting groups:

Have all of you had the determined thought that the new zeal and new enthusiasm for the New Year have to remain all the time? This is the new age and so every thought should be the newest of all. Let every deed be the newest of all. This is called new zeal and new enthusiasm. Have you had such a determined thought? Just as the Father is eternal, so the attainments from the Father are eternal. Therefore, you can attain imperishable attainments through your determined thoughts. So, when you return to your work places, don’t forget this imperishable determined thought. To forget means to lack attainment whereas to have the determined thought means to have all attainments.

Always consider yourselves to be multimillion times fortunate souls. When every step you take is filled with remembrance, each of those steps will be filled with a multi-million fold income. Therefore, always consider yourselves to be multimillion times fortunate souls who earn an immeasurable income each day, and always have the happiness “Wah my elevated fortune!” Others who see you happy will continue to receive inspiration. This is an easy way to serve. Those who are constantly intoxicated in remembrance and service are the ones who remain safe and victorious. Remembrance and service bring such power that you will constantly continue to move forward. However, you must definitely always keep a balance between remembrance and service. This balance will enable you to receive blessings. Because of their courage, courageous children constantly receive help. When children take one step of courage, they receive a thousand steps of help from the Father.

After midnight, on 1.1.85, double-foreign brothers and sisters sang a song of happiness for the New Year and BapDada gave greetings to all the children.

Just as children sing songs of remembrance out of love for the Father, and become merged in love, in the same way, the Father is also merged in love for the children. The Father is the Beloved and also the Lover. The Father also falls in love with the speciality of each child. So, do you know your own speciality? Does each of you know which speciality you have that made the Father fall in love with you?

In the whole world, there are so few such loving children of the Father. Therefore BapDada is giving all the loving children multimillion-fold greetings for the New Year with a lot of love from the depths of His heart. Just as all of you sang a song, BapDada is also singing songs of happiness of you children. The Father’s songs are sung in the mind and your songs are sung in words. Your songs have been heard, but did you also hear the Father’s songs?

In this New Year, definitely always continue to show in every deed one speciality or another. Let every thought be special, let it not be ordinary. Why? Every thought, word and deed of special souls is always special. Constantly continue to move forward with zeal and enthusiasm. Zeal and enthusiasm are your special wings. You can fly as high as you want with these wings. These wings give you the experience of the flying stage. Fly with these wings and no obstacle will reach you there. When people go into space, there is no pull of the Earth’s gravity there. In the same way, obstacles cannot do anything to those who are in the flying stage. Special service is to continue to move forward constantly with zeal and enthusiasm and to inspire others to move forward. Servers constantly have to move forward with this speciality.

Through your elevated stage of a light-and-might-housebecome an instrumentfor God’s revelation.

Before revealing the Father, reveal from within yourself all the praise that applies to you. Only then will you be able to reveal the Father. For this, understand what is the intense, volcano-like form, that is, the stage of a light-and-might-house and stay engaged in that effort. Especially make the pilgrimage of remembrance powerful and become an experienced embodiment of knowledge.

The desire of the majority of devotees is just to see the light for even a second. The eyes of you children are the means to fulfil that desire of theirs. Through your eyes, let there be a vision granted of the Father’s form of light. Let your eyes not be seen as eyes, but as balls of light.

Just as you see sparkling stars in the sky, in the same way, let your eyes also be seen as sparkling stars. However, they will only be seen to be that when you yourselves remain stable in the form of light. Let there be lightness in actions and let your form be of light, let your stage be light. When you special souls have made such effort or have such a stage, revelation will then take place. As you act and speak, entertain and make connections and relationships, practise being detached. Just as it is easy to form relationships and act, so let it be just as easy to become detached. Let there be that practice. When things reach an extreme, the end will take place in a second – this is the effort for a light stage: one moment be in a deep relationship and the next moment, be detached to the same extent that you were in that connection and become a lighthouse. By practising this, you will create the stage of a light-and-might-house and many souls will have visions. This is the method for revelation.

This is now the last season that remains for the drums of revelation to beat. The sound will be heard everywhere whilst there is silence. The drums will beat through silence. Whilst the drums of the mouth are beating, revelation will not take place. When the drums of revelation beat, the drums of the mouth will stop beating. Victory of silence over science has been remembered; it is not through words. Now, let the speciality of revelation come from behind the clouds. The clouds are dispersing, but they haven’t dispersed completely. The more you reach the powerful stage of being a master sun of knowledge and a light-and-might-house, the more these clouds will continue to disperse. The second that the clouds have completely dispersed, the drums will beat.

When there is fire everywhere, everyone runs to a place of coolness. Similarly, be an embodiment of peace and give everyone the experience of the sacrificial vessel of peace. By serving through your mind, you can bring about revelation of the sacrificial vessel of peace. Wherever the children of the Ocean of Peace stay, let that place be like a sacrificial vessel of peace (shanti-kund).

Become like Father Brahma who has an unlimited crown and spread the light and might of revelation through which all souls who have lost all hope will be able to see the rays of hope. Let everyone’s finger point to that special place. Let those who point upwards beyond the sky and who are looking for someone experience the stars of the earth to have been revealed on this land of blessings. Let them experience the Sun, the moon and the galaxy of stars here. In a collective form, become a powerful light-and-might-house and do the service of spreading vibrations. Everyone is now waiting to see when their mastercreators will become complete and perfect and welcome them. Even the elements will welcome them. So the day when they welcome you with the garland of success has to come. When the drums of success beat, the drums of revelation will also beat. They have to beat.

Bharat is the land of the Father’s incarnation and Bharat is the instrumental land for the loud sound of revelation to be heard. The co-operation from the lands abroad will bring about revelation in Bharat and the sound of revelation in Bharat will go abroad. There are many in this world who can make an impact through words but the speciality of your words is that your words have to remind others of the Father. Let the success of your every thought show souls the path to salvation: this is your uniqueness. Up to now it is well known that Raja Yogi souls are elevated, that Raja Yoga is elevated, that their acts are elevated and their transformation is great. Similarly, now reveal that it is the Almighty Himself who is directly teaching you; that the Sun of Knowledge has now risen in the physical world.

If you think the Father’s revelation has to be brought about quickly, then the method for this to happen fast is: each one has to imbibe a positive attitude for the self and for others. Become knowledgefull but do not have negative thoughts in your mind. Anything negative is rubbish. Therefore, make your attitude, vibrations and atmosphere powerful. When the atmosphere everywhere becomes completely free from obstacles, merciful, full of good wishes and pure feelings, then your stage of light-and-might will be instrumental in making revelation happen. Revelation will take place through the balance of constant service and tapasya. Just as you create dialogues for service, so too, also have such tapasya that all moths reach your special places saying, “Baba, Baba!” When the moths come and say, “Baba, Baba”, it can be said that revelation is taking place.

Prepare such mikes who can spread the sound of revelation through the media. You say: God has already come, God has already come. So they think that that is common. However, let others should now say this on your behalf; let those with authority say this. First of all, let them reveal you as Shaktis. When the Shaktis are revealed, Father Shiva too will then definitely be revealed.

Blessing: May you be a soul who, as well has having yoga and conducting yoga also has the speciality of experimenting with yoga.
BapDada has seen that you children are clever both at having yoga and conducting yoga. So, just as you are clever at having yoga and conducting yoga, in the same way, become clever at experimenting with yoga and enable others to experiment. There is now a need for a life of experimenting with yoga. First of all, check: to what extent do I experiment with transforming my sanskars? This is because elevated sanskars are the foundation of creating an elevated world. If the foundation is strong, then all the other things will automatically be strong.
Slogan: Experienced souls can never be influenced by any atmosphere or be coloured by any company.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 14 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 July 2019

To Read Murli 13 July 2019 :- Click Here
14-07-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”मातेश्वरी”
रिवाइज: 31-12-84 मधुबन

नये ज्ञान और नई जीवन द्वारा नवीनता की झलक दिखाओ

आज चारों ओर के बच्चे साकार रूप में वा आकार रूप में नया युग, नया ज्ञान, नया जीवन देने वाले बापदादा से नया वर्ष मनाने के लिए इस रूहानी हाइएस्ट और होलीएस्ट नई दरबार में उपस्थित हैं। बापदादा के पास सभी बच्चों के दिल के उमंग उत्साह और परिवर्तन करने की प्रतिज्ञाओं का शुभसंकल्प, शुभ भावनायें, शुभ कामनायें पहुँच गई हैं। बापदादा भी सर्व नये विश्व के निर्माताओं को, विश्व परिवर्तक विशेष आत्माओं को, सदा पुरानी दुनिया के पुराने संस्कार, पुरानी स्मृतियाँ, पुरानी वृत्तियाँ, पुरानी देह की स्मृति के भान से परे रहने वाले, सर्व पुरानी बातों को विदाई देने वालों को सदा के लिए बधाई दे रहे हैं। बीती को बिन्दी लगाए, स्वराज्य की बिन्दी लगाने वालों को स्वराज्य के तिलक की बधाई दे रहे हैं। सभी बच्चों को इस विदाई की बधाई के साथ नये वर्ष की विशेष सौगात – “सदा साथ रहोˮ “सदा समान रहोˮ “सदा दिलतख्तनशीन श्रेष्ठ रूहानी नशे में रहोˮ यही वरदान की सौगात दे रहे हैं।

यह सारा वर्ष यही समर्थ स्मृति रहे – साथ हैं, बाप समान हैं तो स्वत: ही हर संकल्प में विदाई की बधाई के अनुभव करते रहेंगे। पुराने को विदाई नहीं तो नवीनता की बधाई अनुभव नहीं कर सकते हैं इसलिए जैसे आज पुराने वर्ष को विदाई दे रहे हो वैसे वर्ष के साथ जो सब पुरानी बातें सुनाई उस पुराने-पन को सदा के लिए विदाई दो। नया युग है, नया ब्राहमणों का सुन्दर संसार है, नया सम्बन्ध है, नया परिवार है। नई प्राप्तियाँ हैं। सब नया ही नया है। देखते हो तो भी रूहानी नजर से रूह को देखते हो। रूहानी बातों को ही सोचते हो। तो सब नया हो गया ना। रीति नई, प्रीति नई सब नया। तो सदा नवीनता की बधाई में रहो। इसको कहा जाता है रूहानी बधाई। जो एक दिन के लिए नहीं लेकिन सदा रूहानी बधाईयों से वृद्धि को पाते रहते हो। बापदादा और सर्व ब्राहमण परिवार की बधाईयों वा रूहानी आशीर्वादों से पल रहे हो, चल रहे हो – ऐसे न्यू ईयर विश्व में कोई मना नहीं सकते। वह अल्पकाल का मनाते हैं। आप अविनाशी सदा का मनाते हो वह मनुष्य आत्मायें मनुष्यों से ही मनाते हैं। आप श्रेष्ठ आत्मयें परमात्म बाप से मनाते हो। विधाता और वरदाता से मनाते हो इसलिए मनाना अर्थात् खजानों से, वरदानों से सदा के लिए झोली भरना। उन्हों का है मनाना और गँवाना। यह है झोली भरना इसलिए ही बापदादा से मनाते हो ना। वो लोग हैपी न्यू ईयर कहते, आप एवर हैपी न्यू ईयर कहते। आज खुशी और कल दु:ख की घटना दु:खी नहीं बनाती। कैसी भी दु:ख की घटना हो लेकिन ऐसे समय पर भी सुख, शान्ति स्वरूप स्थिति द्वारा सर्व को सुख शान्ति की किरणें देने वाले मास्टर सुख के सागर दाता का पार्ट बजाते हो इसलिए घटना के प्रभाव से परे हो जाते हो और एवर हैपी का सदा अनुभव करते हो। तो इस नये वर्ष में नीवनता क्या करेंगें? कानफ्रेन्स करेंगे, मेले करेंगे। अभी सब पुरानी रीत रसमों से, पुरानी चाल चलन से थके हुए तो हैं ही। सभी समझते हैं – कुछ नया होना चाहिए। क्या नया हो, कैसे हो वह समझ नहीं सकते हैं। ऐसी नवीनता की इच्छा रखने वालों को नये ज्ञान द्वारा, नई जीवन द्वारा नवीनता की झलक का अनुभव कराओ। यह अच्छा है, इतना भी समझते हैं, लेकिन नया है, यही नया ज्ञान, नया युग ला रहा है, यह अनुभव अभी गुप्त है। होना चाहिए, यह कहते हैं। उन्हों की चाहना पूर्ण करने के लिए नई जीवन का प्रत्यक्ष एक्जैम्पुल उन्हों के सामने प्रत्यक्ष रूप में लाओ, जिससे नई झलक उन्हों को अनुभव हो। तो नया ज्ञान प्रत्यक्ष करो। हर एक ब्राहमण की जीवन से नवीनता का अनुभव हो तब नई सृष्टि की झलक उन्हों को दिखाई दे। कोई भी प्रोग्राम करो उसमें लक्ष्य रखो सभी को नवीनता का अनुभव हो। यह भी अच्छा कार्य हो रहा है इस रिमार्क देने के बजाए यह अनुभव करें कि यह नया ज्ञान, नया संसार लाने वाला है। समझा। नई सृष्टि की स्थापना के अनुभव कराने की लहर फैलाओ। नई सृष्टि आई कि आई अर्थात् हम सब की शुभ भावनाओं का फल मिलने का समय आ गया है, ऐसा उमंग-उत्साह उन्हों के मन में उत्पन्न हो। सभी के मन में निराशा के बदले शुभ भावनाओं के दीपक जागाओ। कोई भी बड़ा दिन मनाते हैं तो दीपक भी जगाते हैं। आजकल तो रॉयल मोमबत्तियाँ हो गई हैं। तो सभी के मन में यह दीपक जगाओ। ऐसा न्यू ईयर मनाओ। श्रेष्ठ भावनाओं के फल की सौगातें सभी को दो। अच्छा –

सदा सर्व को नई जीवन, नये युग की झलक दिखाने वाले, नये उमंग-उत्साह की बधाई देने वाले, सर्व को एवर हैपी बनाने वाले, विश्व को नई रचना का अनुभव कराने वाले, ऐसे सर्व श्रेष्ठ नये युग परिवर्तक, विश्व कल्याणकारी, सदा बाप के साथ का अनुभव करने वाले, बाप के सदा साथी बच्चों को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

पार्टियों से – 1- नये वर्ष का नया उमंग, नया उत्साह सदा के लिए रहना है, ऐसा दृढ़ संकल्प सभी ने किया? नया युग है, इसमें हर संकल्प नये से नया हो। हर कर्म नये से नया हो। इसको कहा जाता है नया उमंग नया उत्साह। ऐसा दृढ़ संकल्प किया? जैसे अविनाशी बाप है, ऐसे बाप द्वारा प्राप्ति भी अविनाशी है। तो अविनाशी प्राप्ति दृढ़ संकल्प द्वारा प्राप्त कर सकते हो। तो अपने कार्य स्थान पर जाकर इस अविनाशी दृढ़ संकल्प को भूल नहीं जाना। भूलना अर्थात् अप्राप्ति और दृढ़ संकल्प रहना अर्थात् सर्व प्राप्ति।

सदा अपने को पदमापदम भाग्यवान आत्मा समझो। जो कदम याद से उठाते हो उस हर कदम में पदमों की कमाई भरी हुई है। तो सदा अपने को एक दिन में अनगिनत कमाई करने वाले पदमापदम भाग्यवान आत्मा समझ इसी खुशी में सदा रहो कि “वाह मेरा श्रेष्ठ भाग्यˮ। तो आपको खुश देखकर औरों को भी प्रेरणा मिलती रहेगी। यही सेवा का सहज साधन है। जो याद और सेवा में सदा मस्त रहते हैं वही सेफ रहते हैं, विजयी रहते हैं। याद और सेवा ऐसी शक्ति है जिससे सदा आगे से आगे बढ़ते रहेंगे। सिर्फ याद और सेवा का बैलेन्स जरूर रखना है। बैलेन्स ही ब्लैसिंग दिलायेगा। हिम्मतवान बच्चों को हिम्मत के कारण सदा ही मदद मिलती है। हिम्मत का एक कदम बच्चे उठाते तो हजार कदम बाप की मदद मिल जाती है।

(रात के 12 बजने के बाद 1.1.85 को विदेशी भाई बहिनों ने नये वर्ष की खुशी में गीत गाये तथा बापदादा ने सभी बच्चों को मुबारक दी)

जैसे बच्चे बाप के स्नेह से याद में गीत गाते और लवलीन हो जाते हैं, ऐसे बाप भी बच्चों के स्नेह में समाये हुए हैं। बाप माशूक भी है तो आशिक भी है। हर एक बच्चे की विशेषता के ऊपर बाप भी आशिक होते हैं। तो अपनी विशेषता को जानते हो? बाप आपके ऊपर किस विशेषता से आशिक हुआ, यह अपनी विशेषता हरेक जानते हो?

सारे विश्व में से कितने थोड़े ऐसे बाप के स्नेही बच्चे हैं। तो बापदादा सभी स्नेही बच्चों को न्यू ईयर की बहुत-बहुत दिल व जान, सिक व प्रेम से पदमगुणा बधाई दे रहे हैं। आप लोगों ने जैसे गीत गाये तो बापदादा भी बच्चों की खुशी के गीत गाते हैं। बाप के गीत मन के हैं और आपके मुख के हैं। आपका तो सुन लिया, बाप का भी सुना ना?

इस नये वर्ष में सदा हर कर्म में कोई न कोई विशेषता जरूर दिखाते रहना। हर संकल्प विशेष हो, साधारण नहीं हो। क्यों? विशेष आत्माओं का हर संकल्प, बोल और कर्म विशेष ही होता है। सदा उमंग उत्साह में आगे बढ़ते रहो। उमंग-उत्साह यह विशेष पंख हैं, इन पंखों द्वारा जितना ऊंचा उड़ना चाहो उतना उड़ सकते हो। यही पंख उड़ती कला का अनुभव कराते हैं। इन पंखों से उड़ जाओ तो विघ्न वहाँ पहुँच नहीं सकते हैं। जैसे स्पेस में जाते हैं तो धरती की आकर्षण खींच नहीं सकती। ऐसे उड़ती कला वाले को विघ्न कुछ भी कर नहीं सकते। सदा उमंग-उत्साह से आगे बढ़ना और बढ़ाना यही विशेष सेवा है। सेवाधारियों को इसी विशेषता से सदा आगे बढ़ते जाना है।

विशेष चुने हुए अव्यक्त महावाक्य – लाइट-माइट हाउस की ऊंची स्थिति द्वारा परमात्म प्रत्यक्षता के निमित्त बनो

बाप को प्रत्यक्ष करने से पहले स्वयं में, जो स्वयं की महिमा है उन सब बातों की प्रत्यक्षता करो, तब बाप को प्रत्यक्ष कर सकेंगे। इसके लिए विशेष ज्वाला स्वरुप अर्थात् लाइट हाऊस और माइट हाऊस स्थिति को समझते हुए इसी पुरुषार्थ में रहो – विशेष याद की यात्रा को पॉवरफुल बनाओ, ज्ञान-स्वरुप के अनुभवी बनो।

मैजॉरिटी भक्तों की इच्छा सिर्फ एक सेकेण्ड के लिये भी लाइट देखने की है, इस इच्छा को पूर्ण करने का साधन आप बच्चों के नयन हैं। इन नयनों द्वारा बाप के ज्योतिस्वरुप का साक्षात्कार हो। यह नयन, नयन नहीं दिखाई दें लाइट का गोला दिखाई दे।

जैसे आकाश में चमकते हुए सितारे दिखाई देते हैं, ऐसे यह ऑखों के तारे सितारे-समान चमकते हुए दिखाई दें। लेकिन वह तब दिखाई देंगे जब स्वयं लाइट स्वरूप में स्थित रहेंगे। कर्म में भी लाईट अर्थात् हल्कापन और स्वरूप भी लाइट, स्टेज भी लाइट हो, जब ऐसा पुरुषार्थ वा स्थिति आप विशेष आत्माओं की रहेगी तब प्रत्यक्षता होगी। कर्म में आते, विस्तार में आते, रमणीकता में आते, सम्बन्ध और सम्पर्क में आते, न्यारे बनने का अभ्यास करो। जैसे सम्बन्ध व कर्म में आना सहज है, वैसे ही न्यारा होना भी सहज हो। ऐसी प्रैक्टिस चाहिये। अति के समय एक सेकेण्ड में अन्त हो जाये – यह है लास्ट स्टेज का पुरुषार्थ। अभी-अभी अति सम्बन्ध में और अभी-अभी जितना सम्पर्क में उतना न्यारा। जैसे लाइट हाउस में समा जाएं। इसी अभ्यास से लाइट हाउस, माइट हाउस स्थिति बनेगी और अनेक आत्माओं को साक्षात्कार होंगे – यही प्रत्यक्षता का साधन है।

अभी लास्ट यही सीजन रह गयी है जिसमें प्रत्यक्षता का नगाड़ा बज़ेगा। आवाज़ बुलन्द होगा, सायलेंस होगी। लेकिन सायलेंस द्वारा ही नगाड़ा बजेगा। जब तक मुख के नगाड़े ज्यादा हैं, तब तक प्रत्यक्षता नहीं। जब प्रत्यक्षता का नगाड़ा बजेगा तब मुख के नगाड़े बन्द हो जायेंगे। गाया हुआ भी है ‘साइंस के ऊपर सायलेंस की जीत’, न कि वाणी की। अभी प्रत्यक्षता की विशेषता बादलों के अन्दर है। बादल बिखर रहे हैं लेकिन हटे नहीं हैं। जितना-जितना शक्तिशाली मास्टर ज्ञान सूर्य वा लाइट माइट हाउस की स्टेज पर पहुँचते जायेंगे वैसे यह बादल बिखरते जायेंगे। बादल मिट जायेंगे तो सेकण्ड में नगाड़ा बज जायेगा।

जैसे चारों ओर अगर आग जल रही हो और एक कोना भी शीतल कुण्ड हो तो सब उसी तरफ दौड़कर जाते हैं, ऐसे शान्ति स्वरूप होकर शान्ति कुण्ड का अनुभव कराओ। मन्सा सेवा द्वारा शान्ति कुण्ड की प्रत्यक्षता कर सकते हो। जहाँ भी शान्ति सागर के बच्चे रहते हैं, वह स्थान शान्तिकुण्ड हो।

ब्रह्मा बाप समान बेहद के ताजधारी बन चारों ओर प्रत्यक्षता की लाइट और माइट फैलाओ जिससे सर्व आत्माओं को निराशा से आशा की किरण दिखाई दे। सबकी अंगुली उस विशेष स्थान की ओर हो। जो आकाश से परे अंगुली कर ढ़ूंढ़ रहे हैं उन्हों को यह अनुभव हो कि इस धरती पर, वरदान भूमि पर धरती के सितारे प्रत्यक्ष हो गये हैं। यह सूर्य, चन्द्रमा और तारामण्डल यहाँ अनुभव हो। संगठित रूप में पावरफुल-शक्तिशाली लाइट-हाउस, माइट-हाउस वायब्रेशन्स फैलाने की सेवा करो। अभी सभी लोग इन्तजार कर रहे हैं कि कब हमारे रचता वा मास्टर रचता सम्पन्न या सम्पूर्ण बन हम लोगों से अपनी स्वागत कराते। प्रकृति भी तो स्वागत करेगी। तो वह सफलता की माला से स्वागत करे – वो दिन आना ही है। जब सफलता के बाजे बजेंगे तब प्रत्यक्षता के बाजे बजेंगे। बजने तो हैं ही।

भारत बाप की अवतरण भूमि है और भारत प्रत्यक्षता का आवाज बुलन्द करने के निमित्त भूमि है। विदेश का सहयोग भारत में प्रत्यक्षता करायेगा और भारत की प्रत्यक्षता का आवाज विदेश तक पहुँचेगा। वाणी से प्रभाव डालने वाले दुनिया में भी अनेक हैं। लेकिन आपके वाणी की विशेषता यही है कि आपका बोल बाप की याद दिलाये। बाप को प्रत्यक्ष करने की सिद्धि आत्माओं को सद्गति की राह दिखाये – यही न्यारापन है। जैसे अब तक यह प्रसिद्ध हुआ है कि यह राजयोगी आत्मायें श्रेष्ठ हैं, राजयोग श्रेष्ठ है, कर्तव्य श्रेष्ठ है, परिवर्तन श्रेष्ठ है। ऐसे इन्हें सिखाने वाला डायरेक्ट आलमाइटी है – ज्ञान सूर्य साकार सृष्टि पर उदय हुआ है – यह अभी प्रत्यक्ष करो।

अगर आप समझते हो कि जल्दी-जल्दी बाप की प्रत्यक्षता हो तो तीव्रगति का प्रयत्न है – सभी अपनी वृत्ति को अपने लिए, दूसरों के लिए पॉजिटिव धारण करो। नॉलेजफुल भले बनो लेकिन अपने मन में निगेटिव धारण नहीं करो। निगेटिव का अर्थ है किचड़ा। तो वृत्ति पावरफुल करो, वायब्रेशन पावरफुल बनाओ, वायुमण्डल पावरफुल बनाओ। जब चारों ओर का वायुमण्डल सम्पूर्ण निर्विघ्न, रहमदिल, शुभ भावना, शुभ कामना वाला बन जायेगा तब आपकी यही लाइट-माइट प्रत्यक्षता के निमित्त बनेंगी। निरन्तर सेवा और तपस्या इन दोनों के बैलेन्स से प्रत्यक्षता होगी। जैसे सेवा का डॉयलाग बनाते हो ऐसे तपस्या भी ऐसी करो जो सब पतंगे बाबा, बाबा कहते आपके विशेष स्थानों पर पहुंच जाएं। परवाने बाबा-बाबा कहते आयें तब कहेंगे प्रत्यक्षता।

माइक भी ऐसे तैयार करो जो मीडिया समान प्रत्यक्षता का आवाज फैलायें। आप कहेंगे भगवान आ गया, भगवान आ गया…. वह तो कामन समझते हैं लेकिन आपकी तरफ से दूसरे कहें, अथॉरिटी वाले कहें, पहले आप लोगों को शक्तियों के रूप में प्रत्यक्ष करें। जब शक्तियां प्रत्यक्ष होंगी तब शिव बाप प्रत्यक्ष हो ही जायेगा। अच्छा – ओम् शान्ति।

वरदान:- योग करने और कराने की योग्यता के साथ-साथ प्रयोगी आत्मा भव 
बापदादा ने देखा बच्चे योग करने और कराने दोनों में होशियार हैं। तो जैसे योग करने-कराने में योग्य हो, ऐसे प्रयोग करने में योग्य बनो और बनाओ। अभी प्रयोगी जीवन की आवश्यकता है। सबसे पहले चेक करो कि अपने संस्कार परिवर्तन में कहाँ तक प्रयोगी बने हैं? क्योंकि श्रेष्ठ संस्कार ही श्रेष्ठ संसार के रचना की नींव हैं। अगर नींव मजबूत है तो अन्य सब बातें स्वत: मजबूत हुई पड़ी हैं।
स्लोगन:- अनुभवी आत्मायें कभी वायुमण्डल वा संग के रंग में नहीं आ सकती।

 

TODAY MURLI 14 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 14 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 13 July 2018 :- Click Here

14/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to claim your inheritance of liberation-in-life from the Father, become free from all the bondages of Maya. Only those who are liberated in life here can claim the status of liberation-in-life there.
Question: How is the seed of this knowledge imperishable?
Answer: The sun and moon dynasty kingdoms are established through this knowledge. The kingdom is very big. Even though souls who have taken knowledge might leave the path of knowledge in the middle, they still come back at the end because they too have to come into the kingdom. Those who have had even the slightest seed of knowledge sown in them will come; they cannot go anywhere else. This aspect proves knowledge to be imperishable.
Song: No one is unique like the Innocent Lord. 

Om shanti. You children are now sitting in front of the Innocent Lord, Praneshwar (the Bestower of Life), and you know very well that you are once again receiving your inheritance of heaven from the unlimited Master, the Innocent Lord. Your intellects go there. Truly, you go back to the Father’s home with the Father. The Father has come to collect you, just as a bridegroom comes to collect his bride. The one Bridegroom comes and makes all the brides beautiful. His name is the Purifier. However, children forget the Father. It is in the drama for them to forget. The Father comes and explains all the secrets to you. The status of you lucky stars is even higher than that of the Father. Just as the Father is the Master of Brahmand, in the same way you too are masters of Brahmand. You used to reside with Me, your Father. Then, you children definitely had to play your part s. You know that you have come to Trilokinath (Master of the Three Worlds) in order to become the Vaikunthnaths (lords of Paradise). The Father says: Children, at this time, you are the masters of the three worlds and I am also the Master of the Three Worlds. Then, when the golden age comes, you become the masters of it; I don’t become that. I come to liberate you souls from the sorrow of Ravan. You have received a lot of sorrow from Ravan. You children have understood the drama. It doesn’t have four ages; it has five ages. The four ages are long ages whereas the confluence age is a leap age. You children should be aware of this knowledge because you have become the children of the Ocean of Knowledge. He is praised on the path of devotion: You are the Ocean of Knowledge and the Ocean of Peace. This cannot be the praise of the lords of Paradise. They are said to be full of all virtues, 16 celestial degrees full. There is no one like that in this iron age and so, surely, someone must have come and made them like that. Therefore, only you become the masters of heaven. Brahma, Vishnu and Shankar, who are the deities of the subtle region, are also shown with partners in order to depict the family path. So heaven also exists here. From the Brahmin clan you will go into the deity clan and then into the warrior clan. Sensible children pay very good attention to their studies. On the path of ignorance, when they have a son, they believe that an heir has come. You too say “Mama, Baba” and so you are heirs. Gandhiji was called Bapuji. In fact, in Bharat, they call many “mother and father”. People call an elderly person “Pitaji” (father). They say that just for the sake of saying it. This one is the Bapuji of all anyway. The Father is Praneshwar, that is, God of all souls. When you say “Father” your hearts experience the happiness of the inheritance and you have that feeling. The feeling that you children have is also numberwise, according to your efforts. Truly, the unlimited Father comes and teaches you Raja Yoga. Brahma, Vishnu and Shankar cannot teach Raja Yoga. God speaks: Deities are human beings with divine virtues. “Parmeshwar” means God, the Father. In Bharat, they speak of the Supreme Father, the Supreme Soul, Supreme God, the Father, and so your intellects go up above because you know that the Father resides up above. You children now understand that you too are residents of that place. We are now sitting personally in front of that Praneshwar. The Father personally reminds you and you therefore have the faith that you are not sitting in front of a sage or great soul, but truly in front of the Mother and Father. Why do you belong to Him? In order to claim your inheritance for your future 21 births from the Mother and Father. If you don’t have faith, why are you sitting here? There has to be a reason. No one without recognition can sit in front of someone. In the world, people recognise one another: this one is a sannyasi, this one is a g overnor. Here, this Father is incognito, but you understand that the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Resident of the supreme abode. Then the question of omnipresence doesn’t arise. Souls remember “O God, the Father!” If they themselves are God, why do they call out? This is something that needs little understanding. However, Maya makes you such that you don’t understand at all. One can’t trust what people say. Maya makes their intellects doubtful. They call out: “O God, the Father!” and then they say that they are the Father. So, why do they call out? Only a child would say “Father“. You only have to remember One. You are now sitting in front of the Father in person. You know that you now belong to the Supreme Father, the Supreme Soul. You are claiming the inheritance from Him. You will now not forget Him. The Father says: Children, become bodiless! Become pure! I have come to take you back. People sing in front of the deities: I am without virtue, I have no virtues. They sing praise of the deities. They consider themselves to be degraded sinners. The world was definitely completely viceless at the beginning. That was called heaven, Shivalaya. It was heaven established by Shiv Baba. The people of Bharat know that heaven exists, but they have forgotten that Bharat was heaven and that the original eternal deities used to rule there. When someone dies, people say that he has gone to heaven. Heaven exists in the golden age; it cannot exist in the iron age. When people print in the papers that someone has gone to heaven, ask them where heaven is. They believe that that person went to God in the supreme abode and that that is heaven. Or, they say that he has gone to the land of nirvana or that he has merged into the light. There is so much difference in the terms they use. That is called the great element of brahm. This is the element of the sky. This cannot be called the great element. That is the great element of brahm, Brahmand, where we souls reside egg-shaped. The Father too resides there. That is called the supreme abode. However, no one can merge into the element of brahm. Many points are explained to you children because you are sitting in front of the Father. Devotees continue to look for God. You know who does the most devotion on the path of devotion. Definitely, those who were worthy of worship at the beginning then became the first worshippers, devotees. Only you children know this. It is sung: You are worthy of worship and you are worshippers. However, those people think that God, the Father, Himself, becomes worthy of worship and a worshipper. That is wrong. The Father comes and makes you children worthy of elevated praise. However, not everyone will receive the liberation-in-life of heaven. Liberation-in-life will be received when you become free from the bondages of Maya. “Liberation-in-life” means to be free from the bondages of Maya. It isn’t that everyone will come in the golden age. Only those who study Raja Yoga will come in the golden age. On the path of knowledge, you have to become free from so many bondages. Meera didn’t have that many bondages. She simply used to say that she wanted to meet Krishna and would therefore remain pure. You have to go to the land of Krishna. Meera was one of the main, important devotees. You are part of the rosary of victory which is the most elevated and worshipped. A rosary of devotees is not worshipped. The rosary of those who make Bharat into heaven is worshipped. Devotees worship the rosary of you children. First of all, there is the rosary of Rudra and then it becomes the rosary of Vishnu. No one knows who the rosary represents; they simply continue to turn its beads. You will now no longer turn the beads of the rosary of devotees. Devotees turn the beads of the rosary of you children. You know that your rosary of victory is being created. Then, we ourselves will become worshippers and turn the beads of a rosary. You rule the kingdom and you will then become the first ones to turn the beads of a rosary. Others will learn devotion from you. You make the world into heaven. The Father is teaching you Raja Yoga and it is named the Gita. There has to be a name for a religious scripture. Although the knowledge disappears, the scriptures will be created. They have made it into a scripture and called it “Shrimad Bhagawad Gita”. They wrote the Gita for the path of devotion. That Gita is not for the path of knowledge. They relate so many different types of Gita. They never say: I am teaching you Raja Yoga. They would say: God departed having taught Raja Yoga. Then they sit and study the scripture of that. We are now listening to that same Gita from God in person and becoming the masters of heaven. The Father says: I only come once to teach you children Raja Yoga and to make you into kings of kings. Until the Bestower of Salvation comes, there will definitely continue to be praise of the path of devotion. Those who came in the previous cycle will come and listen to this again. Many are yet to become this. The sun and moon dynasty-kingdoms are being established and, therefore, very many people will come. This is why knowledge is never destroyed. Wealthy subjects, ordinary subjects, maids and servants are all needed. Such a big kingdom is being established. People don’t know how the golden-aged kingdom is established. If they were to know this, they would tell you about it. They have forgotten the Father. Instead of writing “Incorporeal God Shiva speaks” they have written “God Krishna speaks”. Immediately after Shiva Jayanti, there is Krishna Jayanti. Krishna is the Lord of Paradise. This One sits here and makes you into lords of Paradise. They have then shown Krishna in the copper age. The thread of knowledge of Bharat is so entangled. You now have to imbibe this very well and become knowledgefull. You have to see with how many marks you pass. If you pass now, you will pass every cycle. You have to study while living at home with your family. Nowhere else do old men and women, husband and wife, daughter-in-law etc. all study together. They don’t even study the scriptures like that. They tell women that they mustn’t study the scriptures. Only men become pandits. Here, just see who is studying! It is a wonder of the variety of old women who come here. While living at home, you have to remain as pure as a lotus and study Raja Yoga. You have to become God f atherlystudents. This is called the Godly college of the Brahma Kumars and Kumaris. God is teaching through Brahma. Brahma didn’t emerge from the navel of Vishnu. It would be said to be the navel of the Supreme Father, the Supreme Soul. Shiv Baba is the Seed. Brahma, Vishnu and Shankar emerged from Him. The meaning of all three are different. You children now understand that Vishnu is always shown with Lakshmi: there is the Nar-Narayan Temple (ordinary human and Narayan), and so they have also made him four-armed. If they have Narayan, Lakshmi would surely also be with him. Nar (male) becomes Narayan and nari (woman) becomes Lakshmi. They show Nar-Narayan with four arms. They should show Narayan and Lakshmi separately with two arms each. Such an accurate temple should be built. However, people don’t understand anything from the Nar-Narayan Temple. Together with Nar-Narayan, they also show Lakshmi. Mahalakshmi is worshipped at Deepmala (festival of lights). Mothers are praised so much. There is great praise of Jagadamba. Amba is very sweet because she is a kumari. This one is a half kumar. There is a lot of praise of kumaris in Bharat. However, they don’t know the importance of that. Jagadamba is praised a lot; the Father isn’t praised as much. The Father has come and uplifted the mothers and so you should become courageous. One has to be courageous to ride a lion. There will be assaults, but now that you belong to the Father, you mustn’t let go of your religion, no matter what happens. Become pure and definitely claim a high status. Meera also became pure. The Father tells you kumaris: Say that you want to become pure and the masters of Paradise. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become true heirs, you have to become sensible. Imbibe the study very well and become knowledge-full. Become praiseworthy like the Father.
  2. In order to become the most elevated in the rosary of victory, continue to cut away the bondage of Maya. Become very, very brave and courageous and definitely become pure.
Blessing: May you be one with an elevated character and remain constantly powerful by finishing the burden of being disobedient in small ways.
You have the order to wake up at amrit vela and so you get up and sit down. However, you are unable to achieve success with that method because the silence of sleep becomes mixed with that sweet silence. 2) The Father’s order is: Do not cause sorrow for any soul and do not take any sorrow. So, you do not cause sorrow, but you do take sorrow. 3) You do not get angry but you do become bossy. Being disobedient in such small ways makes your mind heavy. Now, finish this and make your image of being one who is obedient. You will then be said to be a constantly powerful soul with an elevated character.
Slogan: Instead of asking for regard, give everyone regard and you will continue to receive regard from everyone.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 14 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 July 2018

To Read Murli 13 July 2018 :- Click Here
14-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप से जीवनमुक्ति का वर्सा प्राप्त करने के लिए माया के सर्व बन्धनों से मुक्त बनो, यहाँ के जीवनमुक्त ही वहाँ जीवन-मुक्ति पद पाते हैं”
प्रश्नः- इस ज्ञान का बीज अविनाशी है – कैसे?
उत्तर:- इस ज्ञान से सूर्यवंशी और चन्द्रवंशी राजधानी स्थापन होती है, वह राजधानी बहुत बड़ी है, जो आत्मायें एक बार भी ज्ञान ले लेती हैं, भल बीच में छोड़कर चली जायें, फिर वह अन्त में आ जायेंगी, क्योंकि उन्हें भी राजधानी में आना ही है। जिसमें थोड़ा भी ज्ञान का बीज पड़ा है, वह आ जायेगा। जा नहीं सकता। यह बात ही ज्ञान को अविनाशी सिद्ध करती है।
गीत:- भोलेनाथ से निराला…….. 

ओम् शान्ति। बच्चे अब अपने भोलानाथ प्राणेश्वर के सम्मुख बैठे हैं और अच्छी रीति जानते हैं कि इस बेहद के मालिक भोलानाथ से हमको फिर से स्वर्ग का वर्सा मिल रहा है। बुद्धि वहाँ चली जाती है, बरोबर बाप द्वारा ही हम बाप के घर जाते हैं। बाप बुलाने आये हैं, जैसे साजन सजनी को बुलाने आते हैं। एक साजन आकर सब सजनियों को गुल-गुल बनाते हैं। उनका नाम ही है – पतित-पावन। परन्तु बच्चे बाप को भूल जाते हैं। यह भूलना भी ड्रामा के अन्दर है। बाप आकर सभी राज़ समझाते हैं। तुम लक्की सितारों का मर्तबा बाप से भी ऊंच है। जैसे बाप ब्रह्माण्ड का मालिक है, वैसे तुम भी ब्रह्माण्ड के मालिक हो। तुम भी मुझ बाप के साथ रहने वाले थे। फिर तुम बच्चों को तो पार्ट बजाना ही होता है। तुम जानते हो हम वैकुण्ठनाथ बनने के लिए त्रिलोकीनाथ के पास आये हैं। बाप कहते हैं – बच्चे, तुम भी इस समय त्रिलोकीनाथ हो, तो मैं भी त्रिलोकीनाथ हूँ। फिर सतयुग आता है तो उसके नाथ तुम बनते हो, मैं नहीं बनता हूँ। मैं आता ही हूँ तुम्हारी आत्मा को रावण के दु:खों से छुड़ाने। रावण से तुम्हें बहुत दु:ख मिला है। ड्रामा को तो बच्चे समझ गये हैं। इनके चार युग नहीं, बल्कि पांच युग हैं। चार हैं बड़े, एक संगमयुग लीप युग है। यह नॉलेज भी बच्चों के ध्यान में होनी चाहिए क्योंकि ज्ञान सागर के तुम बच्चे बने हो। भक्ति मार्ग में उसकी महिमा की जाती है। तुम ज्ञान के सागर, शान्ति के सागर हो। यह महिमा फिर वैकुण्ठनाथ की नहीं होती। उनको फिर कहा जाता है – सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला……..। इस कलियुग में तो होते नहीं, तो जरूर कोई बनाने वाला आया होगा। तो स्वर्ग के मालिक सिर्फ तुम ही बनते हो। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर जो सूक्ष्मवतनवासी देवतायें हैं उनको भी युगल दिखाते हैं – प्रवृत्ति मार्ग दिखाने लिए। तो स्वर्ग भी यहाँ ही होता है। ब्राह्मण वर्ण से तुम देवता वर्ण में आयेंगे फिर क्षत्रिय वर्ण में आयेंगे।

सयाने बच्चे जो होते हैं वह अच्छी रीति पढ़ाई पर ध्यान देते हैं। अज्ञान काल में भी बच्चा होता है तो समझते हैं वारिस आया है। तुम भी मम्मा-बाबा कहते हो तो वारिस ठहरे ना। जैसे गाँधी को बापू जी कहते थे, यूँ तो भारत में मात-पिता बहुतों को कहते हैं। बुजुर्ग को पिता जी कहते हैं। सिर्फ कहने मात्र कह देते। यह तो सभी का बापू जी है ही। प्राणेश्वर अर्थात् सभी आत्माओं का ईश्वर बाप है। बाप कहने से वर्से की खुशी दिल में आती है। वह भासना आती है। तुम बच्चों को भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार भासना आती है। बरोबर बेहद का बाप आकर राजयोग सिखलाते हैं। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर तो राजयोग सिखला न सकें। भगवानुवाच है। देवी-देवतायें हैं दैवीगुण वाले मनुष्य। परमेश्वर माना गॉड फादर। भारत में भी कहते हैं – परमपिता परमात्मा, सुप्रीम गॉड फादर, तो बुद्धि ऊपर में चली जाती है क्योंकि जानते हैं – फादर ऊपर में रहते हैं। अभी तुम बच्चे समझते हो – हम भी वहाँ के रहने वाले हैं। अभी हम उस प्राणेश्वर के सम्मुख बैठे हैं। बाप सम्मुख याद दिलाते हैं तो निश्चय करते हो – बरोबर यह कोई साधू-महात्मा नहीं, हम मात-पिता के सम्मुख बैठे हैं। क्यों उनके बने हो? मात-पिता से भविष्य 21 जन्मों का वर्सा लेने। अगर निश्चय नहीं तो क्यों बैठे हो? कारण चाहिए। बिना पहचान कोई किसी के सम्मुख बैठ न सके। दुनिया में तो एक-दो की पहचान होती है – यह सन्यासी है, यह गवर्नर है…….। यहाँ यह बाप तो है गुप्त। जबकि समझते हैं परमपिता परमात्मा परमधाम का रहने वाला है। फिर उसमें सर्वव्यापी की बात उठती ही नहीं। आत्मा याद करती है – ओ गॉड फादर। खुद ही परमात्मा होते तो फिर पुकारते किसके लिए? बहुत थोड़ी समझने की बात है। परन्तु माया ऐसा बना देती है जो समझते ही नहीं। जो बात मुख से कहते उस पर फिर विश्वास नहीं करते। माया संशयबुद्धि बना देती है। पुकारते भी हैं – ओ गॉड फादर, फिर कह देते हम ही फादर हैं तब पुकारते क्यों हैं? फादर अक्षर तो बच्चा ही कहेगा। याद एक को ही करना है। अभी तुम सम्मुख बैठे हो। जानते हो हम परमपिता परमात्मा के बने हैं। उससे वर्सा लेते हैं। अब तो नहीं भूलेंगे ना।

बाप कहते हैं – बच्चे, अशरीरी बनो, पवित्र बनो। मैं तुमको लेने आया हूँ। देवताओं के आगे गाते भी हैं – मुझ निर्गुण हारे में कोई गुण नाही। देवताओं की महिमा गाते हैं, अपने को नीच पापी समझते हैं। जरूर पहले सम्पूर्ण निर्विकारी दुनिया थी। उसको स्वर्ग शिवालय कहा जाता था। शिवबाबा का स्थापन किया हुआ स्वर्ग। भारतवासी जानते भी हैं – स्वर्ग होता है। परन्तु भारत स्वर्ग था, आदि सनातन देवी-देवतायें राज्य करते थे – यह भूले हुए हैं। कोई मरता है तो कहते हैं स्वर्ग पधारा। स्वर्ग तो होता है सतयुग में। कलियुग में थोड़ेही होता है। जब अखबार में लिखते हैं – स्वर्ग पधारा तो तुम पूछो स्वर्ग होता कहाँ है? समझते हैं – परमधाम में परमात्मा के पास गया वही स्वर्ग है। या तो कहते निर्वाणधाम गया या फिर कहते ज्योति ज्योत समाया। अक्षरों का कितना फ़र्क है। उसको कहा जाता है-ब्रह्म महतत्व। यह है आकाश तत्व। इनको महतत्व नहीं कहेंगे। महतत्व वह है – ब्रह्म महतत्व, ब्रह्माण्ड, जहाँ हम आत्मायें अण्डे मिसल रहती हैं। बाप भी वहाँ रहते हैं। उसको परमधाम कहा जाता है। बाकी ब्रह्म में कोई लीन नहीं हो सकता। बच्चों को बहुत प्वाइंट्स समझाई जाती है, जबकि सम्मुख बैठे हो। भक्त तो भगवान को ढूँढते रहते हैं।

तुम जानते हो – भक्ति मार्ग में सबसे जास्ती भक्ति कौन करते हैं? जरूर जो पहले पूज्य थे, वही फिर पहले पुजारी भक्त बनते हैं। यह सिर्फ तुम बच्चे ही जानते हो। गाते भी हैं – आपेही पूज्य, आपेही पुजारी। परन्तु वह समझते हैं कि परमात्मा बाप खुद ही पूज्य-पुजारी बनते हैं। यह तो रांग है। बाप आकर बच्चों को ऊंच महिमा लायक बनाते हैं। परन्तु सभी को स्वर्ग की जीवनमुक्ति नहीं मिलेगी। जीवनमुक्ति तो मिलेगी तब, जब माया के बंधनों से मुक्त होंगे। जीवनमुक्त अर्थात् माया के बन्धन से मुक्त। ऐसे नहीं कि सभी सतयुग में आयेंगे। सतयुग में तो वही आयेंगे जो राजयोग सीखते हैं। ज्ञान मार्ग में कितने बंधनों से निकलना पड़ता है! मीरा को कोई इतने बंधन नहीं थे। वह सिर्फ कहती थी – कृष्ण से मिलना है इसलिए पवित्र बनूँगी। तुमको तो कृष्णपुरी में जाना है। वह मीरा थी भक्त शिरोमणी। तुम हो विजय माला शिरोमणी, जो विजयमाला पूजी जाती है। भक्तों की माला कोई पूजी नहीं जाती। जो भारत को स्वर्ग बनाते हैं उन्हों की माला पूजी जाती है। भक्त तुम बच्चों की माला को पूजते हैं। पहले है रूद्र माला, फिर विष्णु की माला बनती है। यह कोई नहीं जानते कि माला किसकी बनी हुई है। सिर्फ माला सिमरते रहते हैं। अभी तुम भक्तों की माला तो नहीं सिमरेंगे। भक्त तुम बच्चों की माला सिमरते हैं। तुम जानते हो – हमारी विजयमाला बन रही है। फिर हम ही खुद पुजारी बन माला फेरेंगे। तुम राज्य भी करते हो फिर जाकर सबसे पहले तुम ही माला फेरेंगे। तुम से ही फिर भक्ति और भी सीखेंगे। तुम विश्व को स्वर्ग बनाते हो।

बाप राजयोग सिखलाते हैं – जिसका नाम गीता रखा है। धर्मशास्त्र का नाम तो चाहिए ना। भल ज्ञान प्राय:लोप हो जाता है परन्तु शास्त्र तो बनेंगे ना। शास्त्र बनाए उसका नाम श्रीमत भगवत गीता रखा है। भक्ति मार्ग के लिए गीता बनाते हैं। वह गीता कोई ज्ञान मार्ग के लिए नहीं है। कितनी गीतायें सुनाते रहते हैं! ऐसे कभी नहीं कहते कि तुमको राजयोग सिखाते हैं। कहेंगे भगवान राजयोग सिखाकर गया था। फिर उसके शास्त्र बैठ पढ़ते हैं। अब भगवान द्वारा सम्मुख वही गीता सुनकर हम स्वर्ग के मालिक बनते हैं। बाप कहते हैं – मैं तुम बच्चों को एक ही बार राजयोग सिखलाए सो राजाओं का राजा बनाने आया हूँ। जब तक सद्गति देने वाला न आये तब तक भक्ति मार्ग की महिमा जरूर चलेगी। जो कल्प पहले आये होंगे वही आकर यह सुनेंगे। अजुन तो बहुत बनने वाले हैं। सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी राजधानी स्थापन हो रही है, तो कितने आयेंगे! इसलिए ज्ञान का विनाश नहीं होता है। साहूकार प्रजा, साधारण प्रजा, नौकर-चाकर आदि भी चाहिए ना। कितनी बड़ी राजधानी स्थापन होती है! मनुष्य थोड़ेही जानते हैं कि कैसे सतयुगी राजधानी स्थापन होती है, अगर यह जान जायें तो सुनायें। बाप को ही भूल गये हैं। निराकार शिव भगवानुवाच के बदले कृष्ण भगवानुवाच लिख दिया है। शिव जयन्ती के बाद फट से कृष्ण जयन्ती आती है। वह कृष्ण है वैकुण्ठनाथ। यह बैठ तुमको वैकुण्ठनाथ बनाते हैं। कृष्ण को फिर द्वापर में ले गये हैं। कितना भारत के ज्ञान का सूत मूँझा हुआ है!

अब अच्छी रीति धारण कर नॉलेजफुल बनना है। देखना है – हम कितने मार्क्स से पास होते हैं? अभी पास होंगे तो कल्प-कल्पान्तर होंगे। गृहस्थ व्यवहार में रहते पढ़ना है। ऐसे तो कहाँ भी होता नहीं जो बूढ़े-बुढ़ियां, स्त्री-पुरुष, बहू आदि सब आकर पढ़े। शास्त्र भी ऐसे नहीं पढ़ते। माताओं को तो कहते – तुमको शास्त्र पढ़ना नहीं है। पुरुष ही पण्डित बन पढ़ते हैं। यहाँ देखो कौन-कौन पढ़ते हैं! कैसी-कैसी बुढ़िया आती हैं! वन्डर है ना। गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान पवित्र रह राजयोग सीखना है। गॉड फादरली स्टूडेन्ट बनना है। इसका नाम ही है – ईश्वरीय ब्रह्माकुमार-कुमारियों का कॉलेज। ईश्वर ब्रह्मा द्वारा पढ़ा रहे हैं। ब्रह्मा कोई विष्णु की नाभी से थोड़ेही निकला है। यह तो परमपिता परमात्मा की नाभी ही कहेंगे। बीजरूप तो शिवबाबा है ना। उनसे ब्रह्मा, विष्णु, शंकर निकले। तीनों का अर्थ ही अलग-अलग है। अभी तुम बच्चे समझते हो – बरोबर विष्णु को हमेशा लक्ष्मी देते हैं। नर-नारायण का मन्दिर है तो उनको भी चतुर्भुज बनाते हैं। नारायण होगा तो उनके साथ लक्ष्मी जरूर होगी। नर – नारायण, नारी – लक्ष्मी। नर-नारायण को 4 भुजा देते हैं। नारायण को अलग, लक्ष्मी को अलग तो दो-दो भुजा देनी चाहिए। ऐसा कायदे अनुसार मन्दिर बनाना चाहिए। परन्तु बिचारे नर-नारायण के मन्दिर से कुछ भी समझते नहीं। नर-नारायण के साथ लक्ष्मी भी देते हैं। दीपमाला में महालक्ष्मी की पूजा करते हैं। माताओं की कितनी महिमा है! जगत अम्बा की बड़ी महिमा है। अम्बा बड़ी मीठी लगती है क्योंकि कुमारी है। यह अधर है। तो कुमारियों का भारत में मान बहुत है। परन्तु महत्व को जानते नहीं हैं। जगत अम्बा का बहुत मान है। बाप का इतना नहीं। बाप ने आकर माताओं को ऊंच उठाया है। तो बहादुर बनना चाहिए। शेर पर सवारी चाहिए। अत्याचार होंगे। परन्तु बाप के बने तो धरत परिये धर्म न छोड़िये। पवित्र बनकर ऊंच पद जरूर पाना है। मीरा भी पवित्र बनी ना। बाप कुमारियों को कहते हैं – बोलो, हम पवित्र बन वैकुण्ठ का मालिक बनना चाहती हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद, प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सच्चा वारिस बनने के लिए सयाना बनना है, पढ़ाई को अच्छी रीति धारण कर नॉलेजफुल बनना है। बाप समान महिमा योग्य बनना है।

2) विजय माला में शिरोमणी बनने के लिए माया के बंधनों को काटते जाना है। बहुत-बहुत बहादुर बन पवित्र जरूर बनना है।

वरदान:- छोटी-छोटी अवज्ञाओं के बोझ को समाप्त कर सदा समर्थ रहने वाले श्रेष्ठ चरित्रवान भव
जैसे अमृतवेले उठने की आज्ञा है तो उठकर बैठ जाते हैं लेकिन विधि से सिद्धि को प्राप्त नहीं करते, स्वीट साइलेन्स के साथ निद्रा की साइलेन्स मिक्स हो जाती है। 2-बाप की आज्ञा है किसी भी आत्मा को न दु:ख दो, न दु:ख लो, इसमें दु:ख देते नहीं हैं लेकिन ले लेते हैं। 3- क्रोध नहीं करते लेकिन रोब में आ जाते हैं, ऐसी छोटी-छोटी अवज्ञायें मन को भारी कर देती हैं। अब इन्हें समाप्त कर आज्ञाकारी चरित्र का चित्र बनाओ तब कहेंगे सदा समर्थ चरित्रवान आत्मा।
स्लोगन:- सम्मान मांगने के बजाए सबको सम्मान दो तो सबका सम्मान मिलता रहेगा।
Font Resize