14 JANUARY ki murli

TODAY MURLI 14 JANUARY 2021 DAILY MURLI (English)

14/01/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, keep the study that the Father is teaches you in your intellects and teach it to everyone. Give everyone the introduction of the Father and the world cycle.
Question: Souls play their parts in the golden age and also in the iron age, but what is the difference?
Answer: When souls play their parts in the golden age they don’t perform any sinful actions; every action there is neutral because Ravan doesn’t exist there. Then, when souls play their parts in the iron age, every action is sinful, because vices exist here. You are now at the confluence age and you have all the knowledge.

Om shanti. You children know that you are sitting in front of Baba. Baba too knows that you children are sitting in front of Him. You also know that the Father is giving you teachings which you then have to give to others. First of all, give the Father’s introduction because everyone has forgotten the Father and His teachings. The teachings that the Father is now giving you will be given again after 5000 years. No one else has this knowledge. The main thing is the Father’s introduction. Then you have to explain that we are all brothers. All the souls of the whole world are also brothers. Everyone is playing the part he has received through his body. The Father has now come to send you to the new world which is called heaven. However, all of us brothers are impure; not a single one is pure. Only the one Father is the Purifier of all the impure ones. This is the impure, vicious, corrupt world of Ravan. Ravan means the five vices of women and the five vices of men. Baba explains in a very simple way. You too can explain in the same way. Therefore, first of all, explain that He is the Father of us souls. We are all brothers. Ask them if this is OK. Tell them to write down that we are all brothers and that our Father is One. He is the Supreme Soul of all of us souls. He is called the Father. Make this sit in their intellects firmly and then the notion of omnipresence can be removed. First of all, teach them about Alpha. Tell them: Write this down clearly: Previously, I used to say that He was omnipresent, but I now understand that He is not omnipresent and that we are all brothers. All souls speak of God, the Father, the Supreme Father. First of all, instil the faith in them that they are souls and not the Supreme Soul and that God is not present in us. A soul is present in each one. Souls play their parts with the support of their bodies. Make this very firm. Achcha, the Father then also gives us the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. No one else knows what the age of this world cycle is. Only the Father explains this to us while He sits in the form of the Teacher. It is not a question of hundreds of thousands of years. This cycle is accurate and predestined. You have to understand this. Note down that the golden and silver ages have now become the past. They are called heaven and semi-heaven where there is the kingdom of deities. One has 16 celestial degrees and the other has 14 degrees. The degrees continue to decrease gradually; the world definitely becomes old. The impact of the golden age is very great. The very name is heaven, the new world. You just have to praise it. In the new world, there is just the one original, eternal, deity religion. First, give the Father’s introduction and then that of the world cycle. You also have pictures to enable them to have faith. This world cycle continues to turn. In the golden age, it was the kingdom of Lakshmi and Narayan, and in the silver age, it was the kingdom of Rama and Sita. That is half the cycle. After those two ages have passed, the copper and iron ages come. The kingdom of Ravan begins in the copper age. The system of vices is created when the deities go onto the path of sin. In the golden and silver ages, all are viceless. There is just the original, eternal, deity religion there. Show everyone these pictures and also explain to them orally how the Father has become our Teacher and teaches us in this way. The Father Himself comes and gives His own introduction. He Himself says: I come to purify the impure. Therefore, I definitely need a body. Otherwise, how could I speak? I am the Living Being, the Truth and the Immortal One. Souls go through the stages of sato, rajo and tamo. It is souls that become pure and impure, and this is why it is said: Pure soul and impure soul. All the sanskars are in the souls. The sanskars of past and sinful actions are carried by souls. In the golden age, there are no sinful actions; you play your parts by performing actions but those actions are neutral. These terms are also mentioned in the Gita and you now understand them in a practical way. You know that Baba has come to change the old world and make the world new. Where all actions are neutral is called the golden age and where all actions are sinful is called the iron age. You are now at the confluence age. Baba tells you everything about both sides. The golden and silver ages are the pure world where there are no sins, there is no mention of vice there. Sins begin when the kingdom of Ravan begins. The pictures of the kingdom of Rama and the kingdom of Ravan are in front of you. The Father explains that this is a study. No one but the Father knows this. This study should remain in your intellects. When you remember the Father, the cycle also enters your intellects. You remember everything in a second. It takes longer to speak about it. The tree is like this and it has three fountains emerging from it. You can remember a tree and its seed in a second. Just as there is a seed of such-and-such a tree and that fruit will grow on it, so you explain the significance of how this is the unlimited human world tree. Everything has been explained to you children about how the dynasty continues for half the cycle and how there is then the kingdom of Ravan. Those who are residents of the golden and silver ages will then become residents of the copper age. The tree continues to grow. The kingdom of Ravan begins after half the cycle when everyone becomes vicious. The inheritance that you received from the Father lasted you for half the cycle. He gave you knowledge and then gave you your inheritance, that is, you experienced the reward, which means you experienced the happiness of the golden and silver ages. That is called the land of happiness, the golden age. There is no sorrow there. Everything is explained to you in such a simple way. Whether you explain to one or too many, you have to pay attention. When you explain, although they nod in agreement, you must also tell them: Note this down, and if you have any doubt, you can ask about it. We explain things to you that no one else knows. They don’t know anything, and so what would they ask? Baba tells you the significance of the unlimited tree. You understand this knowledge at this time. The Father has told you how you go around the cycle of 84 births. Note this down very carefully and then think about it. Just as a teacher gives you an essay to revise at home, similarly, give this knowledge to others and then see what happens. Continue to question them. Explain each and every aspect to them very clearly. Explain the duties of the Father and the Teacher and then those of the Guru. You called out to Him to come and purify us impure ones. When souls become pure they receive pure bodies. As is the gold, so the jewellery made from it. If you take 24 carat gold and don’t use alloy, the ornaments made from it would also be satopradhan. Because alloy has been mixed into you, you have become tamopradhan. At first, Bharat was the 24 carat ‘Golden Sparrow’, that is, it was the satopradhan new world. Then it became tamopradhan. Only the Father explains this. No human being or guru knows this. You call out to Him to come and purify you. However, that is the task of the Guru. When people reach their stage of retirement they adopt gurus. The place beyond sound is the incorporeal world where souls reside. This is the corporeal world. This is the meeting of the two. There, there are no bodies. There are no actions performed there. The Father has all the knowledge. According to the dramaplan, He is called knowledge-full. Because He is the Living Being, the Truth and the Blissful One, He is also called knowledge-full. You call Him the Purifier and knowledge-full Shiv Baba. His name is always Shiv. All souls come down and adopt various names to play their parts. They call out to the Father, but they don’t understand anything. There definitely has to be the Lucky Chariot in whom the Father can come and take you to the pure world. So the Father explains: Sweet children, I come in the body of this one who is now at the end of his many births. He takes the full 84 births. I have to come in the Lucky Chariot. Shri Krishna is number one; he is the master of the new world. He then comes down. After the golden age, he goes through the silvercopper and iron ages. You are now becoming golden from iron. The Father says: Simply remember Me, your Father! There was no knowledge in the soul whose body I entered. It is because I enter him that he is called the Lucky Chariot. Otherwise, the most elevated of all are Lakshmi and Narayan. Therefore, I should enter one of them. However, God doesn’t enter them. This is why neither of them can be called the Lucky Chariot. He has to purify the impure by coming in this chariot. Therefore, this one must definitely be iron aged and tamopradhan. He Himself says: I come at the end of this one’s many births. These words are accurately mentioned in the Gita. The Gita is called the most elevated jewel of all scriptures. It is at this confluence age that the Father comes and establishes the Brahmin and deity clans. The Father comes at the end of many births, that is, He comes at the confluence age. He says: I am the Seed. Krishna is a resident of the golden age. He cannot be seen in any other place. While he takes rebirth, the name, form, land and time all change; even the features change. At first, a small child is very beautiful and then he grows up. He then leaves that body and takes a small body again. This play is predestined and fixed in the drama. When he takes the next body, he can no longer be called Krishna. The next body is given a different name. The time, features, date, moment etc. all change. The history and geography of the world repeat identically. Therefore, this drama continues to repeat. You have to go through the stages of sato, rajo and tamo. The name of the world and the name of the age continue to change. This is now the confluence age. I come at the confluence age. I tell you the true history and geography of the whole world. No one else knows everything from the beginning to the end. Because of not knowing the duration of the golden age, they have spoken of hundreds of thousands of years. All of these things are now in your intellects. Make this firm in yourselves: The Father is the Father, Teacher and Satguru and He is giving us very good methods to become satopradhan once again. It also says in the Gita: Renounce all bodily religions, including your body, and consider yourself to be a soul! You definitely do have to return home. On the path of devotion, they make so much effort to attain God. That is the land of liberation where they are free from having to act. We go and sit in the incorporeal world. When an actor goes home, he is liberated from his part. Everyone wants to attain liberation. No one can attain eternal liberation. This drama is eternal and imperishable. Some say that they don’t like their parts of coming and going. However, no one can do anything about that. This eternal drama is predestined. Not a single one can attain eternal liberation. All of those things are the different types of human dictate. These are elevated directions to make you the most elevated. Human beings shouldn’t be called elevated (Shri). Deities are called elevated; everyone bows down to them (Idols). That is because they were elevated. Krishna was a deity, the prince of heaven. How could he come here? He did not speak the Gita. People go in front of Shiva and ask Him for liberation. He neither goes into liberation-in-life nor into bondage-in-life. Therefore people call out to Him for liberation. He also gives liberation-in-life. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. All of us souls are brothers. Make this lesson firm and inspire others to do the same. Make your sanskars completely pure with remembrance.
  2. In order to become 24 carat pure gold (satopradhan) keep the deep philosophy of action, neutral action and sinful action in your intellect and don’t perform any more sinful actions.
Blessing: May you become an embodiment of experience who uses all your virtues and powers at the right time.
The speciality of Brahmin life is experience. If the experience of even one virtue or power is missing, then at one time or another, you will definitely be influenced by obstacles. Now, begin the course of experience. Use the treasures of every virtue and power. Any time you need a particular virtue, become an embodiment of it at that time. Do not just keep your treasures in the form of knowledge in the locker of your intellect, but use them and you will be able to become victorious and constantly continue to sing the song, “Wah re me” (The wonder of myself)
Slogan: Only those who finish delicate thoughts and create powerful thoughts instead remain double light.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 14 JANUARY 2021 : AAJ KI MURLI

14-01-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बाप तुम्हें जो पढ़ाई पढ़ाते हैं वह बुद्धि में रख सबको पढ़ानी है, हर एक को बाप का और सृष्टि चक्र का परिचय देना है”
प्रश्नः- आत्मा सतयुग में भी पार्ट बजाती और कलियुग में भी लेकिन अन्तर क्या है?
उत्तर:- सतयुग में जब पार्ट बजाती है तो उसमें कोई पाप कर्म नहीं होता है, हर कर्म वहाँ अकर्म हो जाता है क्योंकि रावण नहीं है। फिर कलियुग में जब पार्ट बजाती है तो हर कर्म विकर्म वा पाप बन जाता है क्योंकि यहाँ विकार हैं। अभी तुम हो संगम पर। तुम्हें सारा ज्ञान है।

ओम् शान्ति। अब यह तो बच्चे जानते हैं कि हम बाबा के सामने बैठे हैं। बाबा भी जानते हैं – बच्चे हमारे सामने बैठे हैं। यह भी तुम जानते हो – बाप हमको शिक्षा देते हैं, जो फिर औरों को देनी है। पहले-पहले तो बाप का ही परिचय देना है क्योंकि सब बाप को और बाप की शिक्षा को भूले हुए हैं। अभी जो बाप पढ़ाते हैं, यह पढ़ाई फिर 5 हज़ार वर्ष बाद मिलेगी। यह ज्ञान और कोई को है नहीं। मुख्य हुआ बाप का परिचय। फिर यह भी समझाना है हम सब भाई-भाई हैं। सारी दुनिया की जो सब आत्मायें हैं, सब आपस में भाई-भाई हैं। सब अपना मिला हुआ पार्ट इस शरीर द्वारा बजाते हैं। अब तो बाप आये हैं नई दुनिया में ले जाने के लिए, जिसको स्वर्ग कहा जाता है। परन्तु हम सब भाई पतित हैं, एक भी पावन नहीं। सभी पतितों को पावन बनाने वाला है ही एक बाप। यह है ही पतित, विकारी, भ्रष्टाचारी रावण की दुनिया। रावण का अर्थ ही है 5 विकार स्त्री में, 5 विकार पुरुष में। बाबा बहुत सिम्पल रीति समझाते हैं। तुम भी ऐसे समझा सकते हो। तो पहले-पहले यह समझाओ हम आत्माओं का वह बाप है। हम सब ब्रदर्स हैं। पूछो यह ठीक है? लिखो – हम सब भाई-भाई हैं। हमारा बाप भी एक है, हम सब सोल्स का वह है सुप्रीम सोल, उनको फादर कहा जाता है। यह पक्का-पक्का बुद्धि में बिठाओ तो सर्वव्यापी आदि पहले निकल जाए। अल्फ पहले पढ़ना है। बोलो, यह अच्छी रीति बैठ लिखो। आगे सर्वव्यापी कहता था, अब समझता हूँ कि सर्वव्यापी नहीं है। हम सब भाई-भाई हैं, सब आत्मायें कहती हैं – गॉड फादर, परमपिता। पहले तो यह निश्चय बिठाना है कि हम आत्मा हैं, परमात्मा नहीं हैं। न हमारे में परमात्मा व्यापक है। सबमें आत्मा व्यापक है। आत्मा शरीर के आधार से पार्ट बजाती है, यह पक्का कराओ। अच्छा, फिर वह बाप सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान भी सुनाते हैं, और तो कोई भी जानते नहीं कि इस सृष्टि चक्र की एज कितनी है। बाप ही टीचर के रूप में बैठ समझाते हैं। लाखों वर्ष की तो बात ही नहीं। यह चक्र अनादि, एक्यूरेट बना-बनाया है, इसको जानना पड़े। सतयुग-त्रेता पास्ट हुए, नोट करो। उसको कहा जाता है स्वर्ग और सेमी स्वर्ग। जहाँ देवी-देवताओं का राज्य चलता है, वह 16 कला, वह 14 कला। धीरे-धीरे कलायें कम होती जाती हैं। दुनिया पुरानी तो जरूर होगी ना। सतयुग का प्रभाव बहुत भारी है। नाम ही है स्वर्ग, हेविन, नई दुनिया…. उसकी ही महिमा करनी है। नई दुनिया में है ही एक आदि सनातन देवी-देवता धर्म। पहले बाप का परिचय फिर चक्र का परिचय दिया जाता है। चित्र भी तुम्हारे पास हैं – निश्चय कराने के लिए। यह सृष्टि का चक्र फिरता रहता है। सतयुग में लक्ष्मी-नारायण का राज्य था, त्रेता में राम-सीता का। यह हुआ आधाकल्प, दो युग पास्ट हुए फिर आता है द्वापर-कलियुग। द्वापर में रावण राज्य। देवता वाम मार्ग में चले जाते हैं तो विकार की सिस्टम बन जाती है। सतयुग-त्रेता में सब निर्विकारी रहते हैं। एक आदि सनातन देवी-देवता धर्म रहता है। चित्र भी दिखाना है, ओरली भी समझाना है। बाप हमको टीचर बन ऐसे पढ़ाते हैं। बाप अपना परिचय खुद ही आकर देते हैं। खुद कहते हैं मैं आता हूँ पतितों को पावन बनाने तो मुझे शरीर जरूर चाहिए। नहीं तो बात कैसे करूँ। मैं चैतन्य हूँ, सत हूँ और अमर हूँ। आत्मा सतो, रजो, तमो में आती है। आत्मा ही पावन और पतित बनती है इसलिए कहा जाता है पतित आत्मा, पावन आत्मा। आत्मा में ही सब संस्कार हैं। पास्ट के कर्म वा विकर्म का संस्कार आत्मा ले आती है। सतयुग में विकर्म होता ही नहीं। कर्म करते हैं, पार्ट बजाते हैं परन्तु वह कर्म अकर्म हो जाता है। गीता में भी अक्षर हैं, अभी तुम प्रैक्टिकल में समझ रहे हो। जानते हो बाबा आया हुआ है पुरानी दुनिया को बदलने, नई दुनिया बनाने। जहाँ कर्म अकर्म हो जाते हैं उसको ही सतयुग कहा जाता है और फिर जहाँ सब कर्म, विकर्म होते हैं उसको कलियुग कहा जाता है। तुम अभी हो संगम पर। बाबा दोनों तरफ की बात समझाते हैं। सतयुग-त्रेता तो है पवित्र दुनिया, वहाँ कोई पाप होता नहीं। जब रावण राज्य शुरू होता है तब ही पाप होते हैं। वहाँ विकार का नाम नहीं होता। चित्र तो सामने हैं राम राज्य और रावण राज्य। बाप समझाते हैं यह पढ़ाई है। बाप के सिवाए और कोई नहीं जानता। यह पढ़ाई तो तुम्हारी बुद्धि में रहनी चाहिए, बाप भी याद आता है, चक्र भी बुद्धि में आ जाता है। सेकेण्ड में सब याद आ जाता है। वर्णन करने में देरी लगती है। इनके 3 फाउन्टेन हैं। झाड़ ऐसा होता है, बीज और झाड़ सेकेण्ड में याद आ जायेंगे। यह बीज फलाने झाड़ का है, ऐसे इनसे फल निकलता है। यह बेहद का मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ कैसे है, इनका राज़ तुम समझाते हो। बच्चों को सारा समझाया है – आधाकल्प डिनायस्टी कैसे चलती है फिर रावण राज्य होता है तो जो सतयुग-त्रेतावासी हैं, वही द्वापरवासी बनते हैं। झाड़ वृद्धि को पाता रहता है। आधाकल्प के बाद रावण राज्य होता है, विकारी बन जाते हैं। बाप से जो वर्सा मिला वह आधाकल्प चला। नॉलेज सुनाकर वर्सा दिया, वह प्रालब्ध भोगी अर्थात् सतयुग-त्रेता में सुख पाया। उसको सुखधाम, सतयुग कहा जाता है। वहाँ दु:ख होता ही नहीं। कितना सिम्पल समझाते हैं। एक को समझाते हो या बहुतों को समझाते हो – तो ऐसे अटेन्शन देना है, समझता है, हाँ-हाँ करता है? बोलो नोट करते जाओ। कोई शंका हो तो पूछना। जो बात कोई नहीं जानता वह हम समझाते हैं। तुम कुछ भी जानते नहीं हो, पूछेंगे फिर क्या?

बाबा तो इस बेहद झाड़ का राज़ समझाते हैं। यह नॉलेज अभी तुम समझते हो। बाप ने समझाया है तुम 84 के चक्र में कैसे आते हो। यह अच्छी रीति नोट करो फिर इस पर विचार करना है। जैसे टीचर एसे (निबन्ध) देते हैं फिर घर में जाकर रिवाइज़ कर आते हैं ना। तुम भी यह नॉलेज देते हो फिर देखो क्या होता है। पूछते रहो। एक-एक बात अच्छी रीति समझाओ। बाप-टीचर का कर्तव्य समझाकर फिर गुरू का समझाओ। उनको बुलाया ही है कि आकर हम पतितों को पावन बनाओ। आत्मा पावन बनती है तो फिर शरीर भी पावन मिलता है। जैसा सोना वैसा जेवर बनता है। 24 कैरेट का सोना उठायेंगे, खाद नहीं डालेंगे तो जेवर भी ऐसे सतोप्रधान बनेंगे। अलाए डालने से तमोप्रधान बन पड़े हैं। पहले-पहले भारत 24 कैरेट पक्के सोने की चिड़िया था अर्थात् सतोप्रधान नई दुनिया थी फिर तमोप्रधान बनी है। यह बाप ही समझाते हैं, और कोई मनुष्य गुरू लोग नहीं जानते। बुलाते हैं आकर पावन बनाओ। सो तो गुरू का काम है। वानप्रस्थ अवस्था में मनुष्य गुरू करते हैं। वाणी से परे स्थान तो है इनकारपोरियल वर्ल्ड, जहाँ आत्मायें रहती हैं। यह है कारपोरियल वर्ल्ड। दोनों का यह मेल है। वहाँ तो शरीर है नहीं। वहाँ कोई कर्म नहीं होता है। बाप में तो सारी नॉलेज है। ड्रामा प्लैन अनुसार उनको कहा ही जाता है नॉलेजफुल। वह चैतन्य सत-चित-आनंद स्वरूप होने के कारण उनको नॉलेजफुल कहा जाता है। बुलाते भी हैं हे पतित-पावन, नॉलेजफुल शिवबाबा, उनका नाम सदैव शिव ही है। बाकी आत्मायें सब आती हैं पार्ट बजाने। तो भिन्न-भिन्न नाम धारण करती हैं। बाप को बुलाते हैं परन्तु उनको कुछ भी समझ नहीं रहती। जरूर भाग्यशाली रथ भी होगा, जिसमें बाप प्रवेश कर तुमको पावन दुनिया में ले जाये। तो बाप समझाते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, मैं उनके तन में आता हूँ जो बहुत जन्मों के अन्त में है, पूरा 84 जन्म लेते हैं। भाग्यशाली रथ पर आना पड़ता है। पहले नम्बर में तो है श्रीकृष्ण। वह है नई दुनिया का मालिक। फिर वही नीचे उतरते हैं। गोल्डन से सिल्वर, कॉपर, आइरन एज में आकर पड़ते हैं। अभी फिर तुम आइरन से गोल्डन बन रहे हो। बाप कहते हैं सिर्फ मुझ अपने बाप को याद करो। जिसमें प्रवेश किया है उनकी आत्मा में तो ज़रा भी नॉलेज नहीं थी। इनमें मैं प्रवेश करता हूँ इसलिए इनको भाग्यशाली रथ कहा जाता है। नहीं तो सबसे ऊंच तो यह लक्ष्मी-नारायण हैं, इनमें प्रवेश करना चाहिए। परन्तु उनमें परमात्मा प्रवेश नहीं करते इसलिए उनको भाग्यशाली रथ नहीं कहा जाता है। रथ में आकर पतितों को पावन बनाना है, तो जरूर कलियुगी तमोप्रधान होगा ना। खुद कहते हैं मैं बहुत जन्मों के अन्त में आता हूँ। गीता में भी अक्षर एक्यूरेट हैं। गीता को ही सर्व शास्त्रमई शिरोमणी कहा जाता है। इस संगमयुग पर ही बाप आकर ब्राह्मण कुल और देवता कुल स्थापन करते हैं। बहुत जन्मों के अन्त में अर्थात् संगमयुग पर ही बाप आते हैं। बाप कहते हैं मैं बीजरूप हूँ। कृष्ण तो है सतयुग का रहवासी। उनको दूसरी जगह तो कोई देख न सके। पुनर्जन्म में तो नाम, रूप, देश, काल सब बदल जाता है। फीचर्स ही बदल जाते हैं। पहले छोटा बच्चा सुन्दर होता है फिर बड़ा होता है वह फिर शरीर छोड़ दूसरा छोटा लेता है। यह बना-बनाया खेल ड्रामा के अन्दर फिक्स है। दूसरा शरीर लिया तो उनको कृष्ण नहीं कहेंगे। उस दूसरे शरीर पर नाम आदि फिर दूसरा पड़ेगा। समय, फीचर्स, तिथि-तारीख आदि सब बदल जाता है। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी हूबहू रिपीट कहा जाता है। तो यह ड्रामा रिपीट होता रहता है। सतो, रजो, तमो में आना ही है। सृष्टि का नाम, युग का नाम सब बदलते रहते हैं। अभी यह है संगमयुग। मैं आता ही हूँ संगम पर। मैं तुमको सारी दुनिया की हिस्ट्री-जॉग्राफी सत्य बताता हूँ। आदि से लेकर अन्त तक और कोई भी जानता ही नहीं। सतयुग की आयु कितनी थी, यह पता न होने कारण लाखों वर्ष कह देते हैं। अभी तुम्हारी बुद्धि में सब बातें हैं। तुम्हें अन्दर में यह पक्का करना है कि बाप, बाप-टीचर-सतगुरू है, जो फिर से सतोप्रधान बनने के लिए बहुत अच्छी युक्ति बताते हैं। गीता में भी है देह सहित देह के सब धर्म छोड़ अपने को आत्मा समझो। वापिस अपने घर जरूर जाना है। भक्ति मार्ग में कितनी मेहनत करते हैं, भगवान पास जाने के लिए। वह है मुक्तिधाम, कर्म से मुक्त। हम इनकारपोरियल दुनिया में जाकर बैठते हैं। पार्टधारी घर गया तो पार्ट से मुक्त हुआ। सब चाहते हैं हम मुक्ति पायें। मोक्ष तो किसको मिल न सके। यह ड्रामा अनादि-अविनाशी है। कोई कहे यह पार्ट आने-जाने का हमको पसन्द नहीं, परन्तु इसमें कुछ कर न सकें। यह अनादि ड्रामा बना हुआ है। एक भी मोक्ष पा नहीं सकते। वह सब है अनेक प्रकार की मनुष्य मत। यह है श्रीमत, श्रेष्ठ बनाने के लिए। मनुष्य को श्रेष्ठ नहीं कहेंगे। देवताओं को श्रेष्ठ कहा जाता है। उन्हों के आगे सब नमन करते हैं। तो वह श्रेष्ठ ठहरे ना। कृष्ण देवता है बैकुण्ठ का प्रिन्स। वह यहाँ कैसे आयेगा। न उसने गीता सुनाई। शिव के आगे जाकर कहते हैं हमको मुक्ति दो। वह तो कभी जीवनमुक्त, जीवनबंध में आते ही नहीं इसलिए उनको पुकारते हैं मुक्ति दो। जीवनमुक्ति भी वह देते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) हम सब आत्मा रूप में भाई-भाई हैं, यह पाठ पक्का करना और कराना है। अपने संस्कारों को याद से सम्पूर्ण पावन बनाना है।

2) 24 कैरेट सच्चा सोना (सतोप्रधान) बनने के लिए कर्म-अकर्म-विकर्म की गुह्य गति को बुद्धि में रख अब कोई भी विकर्म नहीं करना है।

वरदान:- समय पर हर गुण वा शक्ति को यूज़ करने वाले अनुभवी मूर्त भव
ब्राह्मण जीवन की विशेषता है अनुभव। अगर एक भी गुण वा शक्ति की अनुभूति नहीं तो कभी न कभी विघ्न के वश हो जायेंगे। अभी अनुभूति का कोर्स शुरू करो। हर गुण वा शक्ति रूपी खजाने को यूज करो। जिस समय जिस गुण की आवश्यकता है उस समय उसका स्वरूप बन जाओ। नॉलेज की रीति से बुद्धि के लाकर में खजाने को रख नहीं दो, यूज़ करो तब विजयी बन सकेंगे और वाह रे मैं का गीत सदा गाते रहेंगे।
स्लोगन:- नाज़ुकपन के संकल्पों को समाप्त कर शक्तिशाली संकल्प रचने वाले ही डबल लाइट रहते हैं।

TODAY MURLI 14 JANUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 14 January 2020

14/01/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, when you reach your karmateet stage you will go to the land of Vishnu. Only the children who pass with honours become karmateet.
Question: What effort do both Fathers make on you children?
Answer: Both Bap and Dada make the effort to make you children become worthy of heaven, completely virtuous and 16 celestial degrees full. It is as though you have received a double engine. He teaches you such a wonderful study that you claim your sovereignty for 21 births.
Song: Do not forget the days of your childhood.

Om shanti. You sweetest, long-lost and now-found children heard the song. According to the dramaplan, such songs have been selected for you. People are wonderstruck that Baba speaks a murli on these film songs. They say: “What type of knowledge is this? You have put aside the scriptures, the Vedas and the Upanishads etc. and conduct a murli on film songs.” It is in the intellects of you children that you belong to the unlimited Father from whom you receive supersensuous joy. Therefore, you must not forget such a Father. It is only by having remembrance of the Father that your sins of many births are burnt. It should not be that you stop remembering Baba and your sins still remain; your status would also be reduced. You should make effort to remember such a Father very well. Just as when there is an engagement they continue to remember one another, so you too are now engaged. Then, when you reach your karmateet stage, you will go to the land of Vishnu. There is now Shiv Baba and also Prajapita Brahma Baba. You have received two engines: one is incorporeal and the other is corporeal. Both make effort to make you children worthy of heaven. You have to become full of all virtues, 16 celestial degrees completely full. Here, you have to pass an examination. These aspects are not mentioned in the scriptures. This is a very wonderful study for your future 21 births. All other studies are for the land of death, whereas this study is for the land of immortality. However, you have to study here for that. You souls cannot go to the golden age until you become pure. This is why the Father comes at the confluence age. This is called the most auspicious, beneficial confluence age, when you become worth diamonds from shells. Therefore, you must continue to follow shrimat. Only Shiv Baba is called Shri Shri. The meaning of the rosary has also been explained to you children. At the beginning is the tassel, Shiv Baba, and then there is the dual-bead because this is the family path. Then there are the beads who gain victory; it is their rosary of Rudra. It then becomes the rosary of Vishnu. No one knows the meaning of this rosary. The Father sits here and explains: You children have to change from shells into diamonds. You have been remembering the Father for 63 births. You are all now lovers of the one Beloved; all of you are devotees of the one God. He alone is the Husband of all husbands and the Father of all fathers. He makes you children into the kings of kings; He does not become that Himself. The Father repeatedly explains: It is only by having remembrance of the Father that your sins of many births will be burnt away. Sages and holy men say that souls are immune to the effect of action. The Father explains: It is souls that carry good and bad sanskars. Those people say: Wherever I look, I only see God, all of this is God’s wonderful game. They have become absolutely dirty on the path of sin. Hundreds of thousands are following the dictates of such people. This is also fixed in the drama. Always keep the three worlds in your intellects: shantidham (the land of peace) where soul reside, sukhdham (the land of happiness) for which you are now making effort and dukhdham (the land of sorrow) which begins after half a cycle. God is called Heavenly God, the Father. He does not establish hell. The Father says: I only establish the land of happiness. This is a play of victory and defeat. You children are now gaining victory over Maya, Ravan, by following shrimat. Then, after half a cycle, the kingdom of Ravan begins again. You children are now on the battlefield. Your intellects have to imbibe this and you then have to explain to others. You have to become sticks for the blind and show them the path home because everyone has forgotten that home. People say that this is a play but they also say that its duration is hundreds of thousands of years. The Father explains: Ravan has made you so blind! The Father is now explaining everything to you. The Father is called the knowledge-full One. This does not mean that He knows everything that is going on within everyone. Those who study occult powers are able to tell you what is going on inside you. That is not the meaning of knowledge-full. This is the praise of the Father. He is the Ocean of Knowledge, the Ocean of Bliss. People say that He knows everything within everyone. You children now understand that He is the Teacher and that He is teaching us. He is also the spiritual Father and the spiritual Satguru. Others are bodily teachers and gurus. They are all separate; the three of them cannot be the same. In some cases, someone’s father would also be his teacher but he couldn’t be his guru as well. Even so, they are all human beings. Here, the Supreme Spirit, the Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching you. A soul cannot be called the Supreme Soul. No one even understands this. They say that the Supreme Soul granted Arjuna such a vision that he said: Please stop! I can’t bear the brightness of this light. All of those things that people have heard have made them believe that the Supreme Soul is a bright light. Previously, some who came to Baba used to go into trance. They would say: Stop this! It is too bright! I cannot tolerate it! Whatever they have heard previously is the devotional feeling that still remains in their intellects. The Father says: I fulfil whatever devotional feelings they remember Me with. If they are worshippers of Ganesh, I grant them a vision of Ganesh. When they have a vision, they believe that they have reached the land of liberation, but no one can go to the land of liberation. There is the example of Narad. He has been remembered as the highest devotee. He asked if he could marry Lakshmi and was told to look at his face in the mirror. There is also the rosary of devotees. Meera has been remembered amongst the females and Narad amongst the males as the main devotees. Here, in knowledge, Saraswati is the main one. All are numberwise. The Father explains: You have to remain very cautious of Maya. Maya makes you do such wrong things that you will have to cry and repent at the end about how God came and yet you were not able to claim your inheritance. You will become maids and servant of the subjects. Later, the study will end and you will have to repent a great deal. This is why the Father has been explaining to you from the beginning so that you don’t have to repent at the end. The more you continue to remember the Father, to that extent your sins will be burnt away with the fire of remembrance. You souls were satopradhan and you then became tamopradhan as more and more alloy was mixed into you. There are the names, golden, silver, copper and iron. You are now to go from the iron age to the golden age. You souls cannot go there until you become pure. In the golden age, there was purity and there was also peace and prosperity. Here, there is no purity and so there is no peace or prosperity either. There is the difference of day and night. Therefore, the Father says: Do not forget the days of your childhood. The Father has adopted you. He has adopted you through Brahma. This is an adoption. A wife is adopted, whereas children are created. A wife is not called a creation. This Father also adopts you: You are the same children of Mine whom I adopted a cycle ago too. It is the adopted children who receive the inheritance from the Father. You receive the most elevated inheritance from the highest-on-high Father. First is God and then Lakshmi and Narayan, the masters of the golden age, are the second number. You are now becoming the masters of the golden age. You have not yet become complete; you are still becoming that. True spiritual service means to become pure and make others pure. You are now doing spiritual service and this is why you are very elevated. Shiv Baba makes impure ones pure and you also make others pure. Ravan made your intellects so degraded. The Father is now making you worthy of becoming the masters of the new world. How can they say that such a Father is in the pebbles and stones? The Father says: This play is predestined. The same will happen in the next cycle. According to the dramaplan, I have come to explain to you. There cannot be the slightest change in this. The Father cannot delay coming by even a second. Just as there is Baba’s reincarnation, so there is also the reincarnation of you children. You have incarnated here. Souls come down here to play their parts in corporeal forms. This is called incarnation. You came down here from up above in order to play your parts. The Father’s birth is divine and unique. The Father Himself says: I have to take the support of matter. I enter this body. This body has been selected for Me. This is such a wonderful play. Everyone’s part in this play is predestined and each one continues to play it. You will play your parts of 21 births again in the same way. You have received clear knowledge, but you understand it numberwise according to the efforts you make. Baba praises the maharathis. A war was portrayed between the Pandavas and the Kauravas; all of those stories have been made up. You now understand that they are physically, doubly violent, whereas you are spiritually, doubly non-violent. Just look how simply you are sitting in order to claim your kingdom! You know that your sins will be absolved by having remembrance of the Father. This is the only concern you have. The whole effort is just in having remembrance. This is why the ancient yoga of Bharat has been remembered. People abroad too want to learn the ancient yoga of Bharat. They believe that sannyasis can teach them this yoga. In fact, they do not teach anything. Their renunciation belongs to hatha yoga. You belong to the family path. Your kingdom existed at the beginning; it is now the end. There is now government of the people by the people. There is extreme darkness in the world. You now know that there is going to be bloodshed without cause. They also show such a play. However, here, it is a matter of the unlimited. There will be so much bloodshed! There will also be natural calamities. Death will come for everyone. This is called bloodshed without cause. You will need to have a great deal of courage to be able to observe this. Those who are afraid quickly faint. You have to remain fearless in this. You are Shiv Shaktis. Shiv Baba is the Almighty Authority and we take shakti (power) from Him. Only the Father shows you the way to become pure from impure. The Father gives you very simple advice: Children, you were satopradhan and have now become tamopradhan. The Father now says: Remember Me and you will become pure from impure and you will become satopradhan. You souls have yoga with the Father so that your sins can be burnt away. The Father is the Authority. In the picture, they show Brahma emerging from the navel of Vishnu. They say that he sat and explained all the secrets of the Vedas and scriptures through him. You now know that Brahma becomes Vishnu and that Vishnu then becomes Brahma. Establishment takes place through Brahma, but he also has to sustain the creation that takes place. All of these aspects have been explained to you very clearly. Those who understand this spiritual knowledge are concerned about how it can be given to everyone else. If you have wealth, why should you not open a centre? The Father says: Rent a building and open a hospital-cum-university there. There is liberation through yoga and liberation-in-life through knowledge. You receive a double inheritance. You simply need three square feet of land for this. You don’t need anything else to open a Godfatherly University. Whether it’s called “Vishwa Vidhyalaya” or university, it is the same thing. This is a huge university for becoming deities from ordinary human beings. People ask how you cover your expenses. The Father of the Brahma Kumars and Kumaris has so many children and yet you ask this! Just look what is written on the board. This knowledge is so wonderful! The Father is also wonderful. How do you become the masters of the world? You call Shiv Baba “Shri Shri” because He is the Highest on High. Lakshmi and Narayan are called Shri Lakshmi and Shri Narayan. You have to imbibe all of these aspects very well. The Father says: I teach you Raj Yoga. This is the true story of immortality. The story of immortality would not have been told to only one Parvati; many people go to Amarnath. You children come to the Father in order to be refreshed. Then, when you are refreshed, you have to explain to others, refresh them and open centres. The Father says: Simply take three square feet of land and open a hospital-cum-university and many will benefit from that. There is no expense in that. You receive health, wealth and happiness within a second. You children take birth and become heirs. You simply have faith and become the masters of the world. However, everything then depends on how much effort you make. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to watch the scenes of bloodshed without cause at the end, you Shiv Shaktis have to become very fearless. By having remembrance of the Almighty Authority you can take power from Him.
  2. Become pure and do the true spiritual service of making others pure. Become doublynon-violent. Become a stick for the blind and show everyone the way home.
Blessing: May you truly die alive and have a cremation ceremony of your old sanskars.
When a person dies the body is cremated, and through that, the name and form completely finish. In the same way, when children die alive, then, though your bodies are the same, you have the cremation of your old sanskars, memories and nature. If someone who has been cremated comes in front of you, he is called a ghost. Here, too, when sanskars that have been cremated awaken and emerge again, that is an evil spirit of Maya. Chase away those evil spirits and do not even talk about them.
Slogan: Instead of talking about the suffering of karma (karma bhog), continue to speak about your stage of karma yoga.

*** Om Shanti ***

Special homework to experience the avyakt stage in this avyakt month.

Throughout the whole day, constantly have benevolent wishes for everyone, have the good wishes to give love and co-operation, the good wishes to increase courage and enthusiasm, the good wishes to belong and good wishes of remaining soul conscious. These good wishes are the basis of creating an avyakt stage.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 14 JANUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 January 2020

14-01-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हारी जब कर्मातीत अवस्था होगी तब विष्णुपुरी में जायेंगे, पास विद् ऑनर होने वाले बच्चे ही कर्मातीत बनते हैं”
प्रश्नः- तुम बच्चों पर दोनों बाप कौन-सी मेहनत करते हैं?
उत्तर:- बच्चे स्वर्ग के लायक बनें। सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण बनाने की मेहनत बापदादा दोनों करते हैं। यह जैसे तुम्हें डबल इंजन मिली है। ऐसी वन्डरफुल पढ़ाई पढ़ाते हैं जिससे तुम 21 जन्म की बादशाही पा लेते हो।
गीत:- बचपन के दिन भुला न देना……… 

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों ने गीत सुना। ड्रामा प्लैन अनुसार ऐसे-ऐसे गीत सलेक्ट किये हुए हैं। मनुष्य चािढत होते हैं कि यह क्या नाटक के रिकॉर्ड पर वाणी चलाते हैं। यह फिर किस प्रकार का ज्ञान है! शास्त्र, वेद, उपनिषद आदि छोड़ दिये, अब रिकार्ड के ऊपर वाणी चलती है! यह भी तुम बच्चों की बुद्धि में है कि हम बेहद के बाप के बने हैं, जिससे अतीन्द्रिय सुख मिलता है ऐसे बाप को भूलना नहीं है। बाप की याद से ही जन्म-जन्मान्तर के पाप दग्ध होते हैं। ऐसे न हो जो याद को छोड़ दो और पाप रह जाएं। फिर पद भी कम हो जायेगा। ऐसे बाप को तो अच्छी रीति याद करने का पुरूषार्थ करना चाहिए। जैसे सगाई होती है तो फिर एक-दो को याद करते हैं। तुम्हारी भी सगाई हुई है फिर जब तुम कर्मातीत अवस्था को पाते हो तब विष्णुपुरी में जायेंगे। अभी शिवबाबा भी है। प्रजापिता ब्रह्मा बाबा भी है। दो इंजन मिली हैं – एक निराकारी, दूसरी साकारी। दोनों ही मेहनत करते हैं कि बच्चे स्वर्ग के लायक बन जाएं। सर्वगुण सम्पन्न 16 कला सम्पूर्ण बनना है। यहाँ इम्तहान पास करना है। यह बातें कोई शास्त्रों में नहीं हैं। यह पढ़ाई बड़ी वन्डरफुल है-भविष्य 21जन्मों के लिए। और पढ़ाई होती हैं मृत्युलोक के लिए, यह पढ़ाई है अमरलोक के लिए। उसके लिए पढ़ना तो यहाँ है ना। जब तक आत्मा पवित्र न बने तब तक सतयुग में जा न सके इसलिए बाप संगम पर ही आते हैं, इसको ही पुरूषोत्तम कल्याणकारी युग कहा जाता है। जबकि तुम कौड़ी से हीरे जैसा बनते हो इसलिए श्रीमत पर चलते रहो। श्री श्री शिवबाबा को ही कहा जाता है। माला का अर्थ भी बच्चों को समझाया है। ऊपर में फूल है शिवबाबा, फिर है युगल मेरू। प्रवृत्ति मार्ग है ना। फिर हैं दाने, जो विजय पाने वाले हैं, उनकी ही रूद्र माला फिर विष्णु की माला बनती है। इस माला का अर्थ कोई भी नहीं जानते। बाप बैठ समझाते हैं तुम बच्चों को कौड़ी से हीरे जैसा बनना है। 63 जन्म तुम बाप को याद करते आये हो। तुम अब आशिक हो एक माशुक के। सब भक्त हैं एक भगवान के। पतियों का पति, बापों का बाप वह एक ही है। तुम बच्चों को राजाओं का राजा बनाते हैं। खुद नहीं बनते हैं। बाप बार-बार समझाते हैं – बाप की याद से ही तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के पाप भस्म होंगे। साधू सन्त तो कह देते आत्मा निर्लेप है। बाप समझाते हैं संस्कार अच्छे वा बुरे आत्मा ही ले जाती है। वह कह देते बस जिधर देखता हूँ सब भगवान ही भगवान हैं। भगवान की ही यह सब लीला है। बिल्कुल ही वाम मार्ग में गन्दे बन जाते हैं। ऐसे-ऐसे की मत पर भी लाखों मनुष्य चल रहे हैं। यह भी ड्रामा में नूंध है। हमेशा बुद्धि में तीन धाम याद रखो-शान्तिधाम जहाँ आत्मायें रहती हैं, सुखधाम जहाँ के लिए तुम पुरूषार्थ कर रहे हो, दु:खधाम शुरू होता है आधाकल्प के बाद। भगवान को कहा जाता है हेविनली गॉड फादर। वह कोई हेल स्थापन नहीं करते हैं। बाप कहते हैं मैं तो सुखधाम ही स्थापन करता हूँ। बाकी यह हार और जीत का खेल है। तुम बच्चे श्रीमत पर चलकर अभी माया रूपी रावण पर जीत पाते हो। फिर आधाकल्प बाद रावण राज्य शुरू होता है। तुम बच्चे अभी युद्ध के मैदान पर हो। यह बुद्धि में धारण करना है फिर दूसरों को समझाना है। अन्धों की लाठी बन घर का रास्ता बताना है क्योंकि सब उस घर को भूल गये हैं। कहते भी हैं कि यह एक नाटक है। परन्तु इसकी आयु लाखों हज़ारों वर्ष कह देते हैं। बाप समझाते हैं रावण ने तुमको कितना अन्धा (ज्ञान नैनहीन) बना दिया है। अभी बाप सब बातें समझा रहे हैं। बाप को ही नॉलेजफुल कहा जाता है। इसका अर्थ यह नहीं कि हर एक के अन्दर को जानने वाले हैं। वह तो रिद्धि-सिद्धि वाले सीखते हैं जो तुम्हारे अन्दर की बातें सुना लेते हैं। नॉलेजफुल का अर्थ यह नहीं है। यह तो बाप की ही महिमा है। वह ज्ञान का सागर, आनंद का सागर है। मनुष्य तो कह देते कि वह अन्तर्यामी है। अभी तुम बच्चे समझते हो कि वह तो टीचर है, हमको पढ़ाते हैं। वह रूहानी बाप भी है, रूहानी सतगुरू भी है। वह जिस्मानी टीचर गुरू होते हैं, सो भी अलग-अलग होते हैं, तीनों एक हो न सके। करके कोई-कोई बाप टीचर भी होता है। गुरू तो हो न सके। वह तो फिर भी मनुष्य है। यहाँ तो वह सुप्रीम रूह परमपिता परमात्मा पढ़ाते हैं। आत्मा को परमात्मा नहीं कहा जाता। यह भी कोई समझते नहीं। कहते हैं परमात्मा ने अर्जुन को साक्षात्कार कराया तो उसने कहा बस करो, बस करो हम इतना तेज सहन नहीं कर सकते। यह जो सब सुना है तो समझते हैं परमात्मा इतना तेजोमय है। आगे बाबा के पास आते थे तो साक्षात्कार में चले जाते थे। कहते थे बस करो, बहुत तेज है, हम सहन नहीं कर सकते। जो सुना हुआ है वही बुद्धि में भावना रहती है। बाप कहते हैं जो जिस भावना से याद करते हैं, मैं उनकी भावना पूरी कर सकता हूँ। कोई गणेश का पुजारी होगा तो उनको गणेश का साक्षात्कार करायेंगे। साक्षात्कार होने से समझते हैं बस मुक्तिधाम में पहुँच गया। परन्तु नहीं, मुक्तिधाम में कोई जा न सके। नारद का भी मिसाल है। वह शिरोमणि भक्त गाया हुआ है। उसने पूछा हम लक्ष्मी को वर सकते हैं तो कहा अपनी शक्ल तो देखो। भक्त माला भी होती है। फीमेल्स में मीरा और मेल्स में नारद मुख्य गाये हुए हैं। यहाँ फिर ज्ञान में मुख्य शिरोमणि है सरस्वती। नम्बरवार तो होते हैं ना।

बाप समझाते हैं माया से बड़ा खबरदार रहना है। माया ऐसा उल्टा काम करा लेगी। फिर अन्त में बहुत रोना, पछताना पड़ेगा-भगवान आया और हम वर्सा ले न सके! फिर प्रजा में भी दास-दासी जाकर बनेंगे। पीछे पढ़ाई तो पूरी हो जाती है, फिर बहुत पछताना पड़ता है इसलिए बाप पहले से ही समझा देते हैं कि फिर पछताना न पड़े। जितना बाप को याद करते रहेंगे तो योग अग्नि से पाप भस्म होंगे। आत्मा सतोप्रधान थी फिर उसमें खाद पड़ते-पड़ते तमोप्रधान बनी है। गोल्डन, सिलवर, कॉपर, आइरन… नाम भी है। अभी आइरन एज से फिर तुमको गोल्डन एज में जाना है। पवित्र बनने बिगर आत्मायें जा न सकें। सतयुग में प्योरिटी थी तो पीस, प्रासपर्टी भी थी। यहाँ प्योरिटी नहीं तो पीस प्रासपर्टी भी नहीं। रात-दिन का फर्क है। तो बाप समझाते हैं यह बचपन के दिन भूल न जाना। बाप ने एडाप्ट किया है ना। ब्रह्मा द्वारा एडाप्ट करते हैं, यह एडाप्शन है। स्त्री को एडाप्ट किया जाता है। बाकी बच्चों को फिर क्रियेट किया जाता है। स्त्री को रचना नहीं कहेंगे। यह बाप भी एडाप्ट करते हैं कि तुम हमारे वही बच्चे हो जिनको कल्प पहले एडाप्ट किया था। एडाप्टेड बच्चों को ही बाप से वर्सा मिलता है। ऊंच ते ऊंच बाप से ऊंच ते ऊंच वर्सा मिलता है। वह है ही भगवान फिर सेकण्ड नम्बर में हैं लक्ष्मी-नारायण सतयुग के मालिक। अभी तुम सतयुग के मालिक बन रहे हो। अभी सम्पूर्ण नहीं बने हो, बन रहे हो।

पावन बनकर पावन बनाना, यही रूहानी सच्ची सेवा है। तुम अभी रूहानी सेवा करते हो इसलिए तुम बहुत ऊंचे हो। शिवबाबा पतितों को पावन बनाते हैं। तुम भी पावन बनाते हो। रावण ने कितना तुच्छ बुद्धि बना दिया है। अभी बाप फिर लायक बनाए विश्व का मालिक बनाते हैं। ऐसे बाप को फिर पत्थर ठिक्कर में कैसे कह सकते? बाप कहते हैं यह खेल बना हुआ है। कल्प बाद फिर ऐसा होगा। अब ड्रामा प्लैन अनुसार मैं आया हूँ तुमको समझाने। इसमें ज़रा भी फर्क नहीं पड़ सकता। बाप एक सेकण्ड की देरी नहीं कर सकते। जैसे बाबा का रीइनकारनेशन होता है, वैसे तुम बच्चों का भी रीइनकारनेशन होता है, तुम अवतरित हो। आत्मा यहाँ आकर फिर साकार में पार्ट बजाती है, इसको कहा जाता है अवतरण। ऊपर से नीचे आया पार्ट बजाने। बाप का भी दिव्य, अलौकिक जन्म है। बाप खुद कहते हैं मुझे प्रकृति का आधार लेना पड़ता है। मैं इस तन में प्रवेश करता हूँ। यह मेरा मुकरर तन है। यह बहुत बड़ा वन्डरफुल खेल है। इस नाटक में हर एक का पार्ट नूंधा हुआ है जो बजाते ही रहते हैं। 21 जन्मों का पार्ट फिर ऐसे ही बजायेंगे। तुमको क्लीयर नॉलेज मिली है सो भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। महारथियों की बाबा महिमा तो करते हैं ना। यह जो दिखाते हैं पाण्डव और कौरवों की युद्ध हुई, यह सब हैं बनावटी बातें। अभी तुम समझते हो वह है जिस्मानी डबल हिंसक, तुम हो रूहानी डबल अहिंसक। बादशाही लेने के लिए देखो तुम बैठे कैसे हो। जानते हो बाप की याद से विकर्म विनाश होंगे। यही फुरना लगा हुआ है। मेहनत सारी याद करने में ही है इसलिए भारत का प्राचीन योग गाया हुआ है। वह बाहर वाले भी यह भारत का प्राचीन योग सीखना चाहते हैं। समझते हैं कि सन्यासी लोग हमको यह योग सिखलायेंगे। वास्तव में वह सिखलाते कुछ भी नहीं हैं। उन्हों का सन्यास है ही हठयोग का। तुम हो प्रवृत्ति मार्ग वाले। तुम्हारी शुरू में ही किंगडम थी। अभी है अन्त। अभी तो पंचायती राज्य है। दुनिया में अंधकार तो बहुत है। तुम जानते हो अभी तो खूने नाहेक खेल होना है। यह भी एक खेल दिखाते हैं, यह तो बेहद की बात है, कितने खून होंगे। नैचुरल कैलेमिटीज होंगी। सबका मौत होगा। इनको खूने नाहेक कहा जाता है। इसमें देखने की बड़ी हिम्मत चाहिए। डरपोक तो झट बेहोश हो जायेंगे, इसमें निडरपना बहुत चाहिए। तुम तो शिव शक्तियाँ हो ना। शिवबाबा है सर्वशक्तिमान्, हम उनसे शक्ति लेते हैं, पतित से पावन बनने की युक्ति बाप ही बतलाते हैं। बाप बिल्कुल सिम्पुल राय देते हैं-बच्चे, तुम सतोप्रधान थे, अब तमोप्रधान बने हो, अब बाप कहते हैं मुझे याद करो तो तुम पतित से पावन सतोप्रधान बन जायेंगे। आत्मा को बाप के साथ योग लगाना है तो पाप भस्म हो जाएं। अथॉरिटी भी बाप ही है। चित्रों में दिखाते हैं-विष्णु की नाभी से ब्रह्मा निकला। उन द्वारा बैठ सब शास्त्रों वेदों का राज़ समझाया। अभी तुम जानते हो ब्रह्मा सो विष्णु, विष्णु सो ब्रह्मा बनते हैं। ब्रह्मा द्वारा स्थापना करते फिर जो स्थापना हुई उनकी पालना भी जरूर करेंगे ना। यह सब अच्छी रीति समझाया जाता है, जो समझते हैं उनको यह ख्याल रहेगा कि यह रूहानी नॉलेज कैसे सबको मिलनी चाहिए। हमारे पास धन है तो क्यों नहीं सेन्टर्स खोलें। बाप कहते हैं अच्छा किराये पर ही मकान ले लो, उसमें हॉस्पिटल कम युनिवर्सिटी खोलो। योग से है मुक्ति, ज्ञान से है जीवनमुक्ति। दो वर्से मिलते हैं। इसमें सिर्फ 3 पैर पृथ्वी के चाहिए, और कुछ नहीं। गॉड फादरली युनिवर्सिटी खोलो। विश्व विद्यालय वा युनिवर्सिटी, बात तो एक ही हुई। यह मनुष्य से देवता बनने की कितनी बड़ी युनिवर्सिटी है। पूछेंगे, आपका खर्चा कैसे चलता है? अरे, बी.के. के बाप को इतने ढेर बच्चे हैं, तुम पूछने आये हो! बोर्ड पर देखो क्या लिखा हुआ है? बड़ी वन्डरफुल नॉलेज है। बाप भी वन्डरफुल है ना। विश्व के मालिक तुम कैसे बनते हो? शिवबाबा को कहेंगे श्री श्री क्योंकि ऊंच ते ऊंच है ना। लक्ष्मी-नारायण को कहेंगे श्री लक्ष्मी, श्री नारायण। यह सब अच्छी रीति धारण करने की बातें हैं। बाप कहते हैं मैं तुमको राजयोग सिखलाता हूँ। यह है सच्ची-सच्ची अमरकथा। सिर्फ एक पार्वती को थोड़ेही अमर कथा सुनाई होगी। कितने ढेर मनुष्य अमरनाथ पर जाते हैं। तुम बच्चे बाप के पास आये हो रिफ्रेश होने। फिर सबको समझाना है, जाकर रिफ्रेश करना है, सेन्टर खोलना है। बाप कहते हैं सिर्फ 3 पैर पृथ्वी का लेकर हॉस्पिटल कम युनिवर्सिटी खोलते जाओ तो बहुतों का कल्याण होगा। इसमें खर्चा तो कुछ भी नहीं है। हेल्थ, वेल्थ और हैप्पीनेस एक सेकण्ड में मिल जाती है। बच्चा जन्मा और वारिस हुआ। तुमको भी निश्चय हुआ और विश्व के मालिक बनें। फिर है पुरूषार्थ पर मदार। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अन्तिम खूने नाहेक सीन देखने के लिए बहुत-बहुत निर्भय, शिव शक्ति बनना है। सर्वशक्तिमान् बाप की याद से शक्ति लेनी है।

2) पावन बनकर, पावन बनाने की रूहानी सच्ची सेवा करनी है। डबल अहिंसक बनना है। अंधों की लाठी बन सबको घर का रास्ता बताना है।

वरदान:- पुराने संस्कारों का अग्नि संस्कार करने वाले सच्चे मरजीवा भव
जैसे मरने के बाद शरीर का संस्कार करते हैं तो नाम रूप समाप्त हो जाता है ऐसे आप बच्चे जब मरजीवा बनते हो तो शरीर भल वही है लेकिन पुराने संस्कारों, स्मृतियों वा स्वभावों का संस्कार कर देते हो। संस्कार किया हुआ मनुष्य फिर से सामने आये तो उसको भूत कहा जाता है। ऐसे यहाँ भी यदि कोई संस्कार किये हुए संस्कार जागृत हो जाते हैं तो यह भी माया के भूत हैं। इन भूतों को भगाओ, इनका वर्णन भी नहीं करो।
स्लोगन:- कर्मभोग का वर्णन करने के बजाए, कर्मयोग की स्थिति का वर्णन करते रहो।

अव्यक्त स्थिति का अनुभव करने के लिए विशेष होमवर्क

पूरा ही दिन सर्व के प्रति कल्याण की भावना, सदा स्नेह और सहयोग देने की भावना, हिम्मत-हुल्लास बढ़ाने की भावना, अपनेपन की भावना और आत्मिक स्वरूप की भावना रखना है। यही भावना अव्यक्त स्थिति बनाने का आधार है।

TODAY MURLI 14 JANUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 14 January 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 13 January 2019 :- Click Here

14/01/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to become completely pure. Therefore, don’t cause anyone sorrow. Do not perform any sinful actions through your physical organs. Always continue to follow the Father’s orders.
Question: What is the way to change from a stone to a philosopher’s stone? Which illness becomes an obstacle in this?
Answer: In order to change from a stone to a philosopher’s stone, you need to have the intoxication of becoming Narayan and your body consciousness has to be broken. It is this body consciousness that is the most severe illness. Until you become soul conscious, you cannot become a philosopher’s stone. Only those who become a philosopher’s stone become the Father’s helpers. Only doing s ervice will make your intellect golden. For this, you need to pay full attention to the study.

Om shanti. The spiritual Father cautions you spiritual children: Children, consider yourselves to be confluence aged. You cannot consider yourselves to be golden aged. Only you Brahmins consider yourselves to be confluence aged. All others would consider themselves to be iron aged. There is a lot of difference between the golden age and the iron age, between the residents of heaven and the residents of hell. You are neither residents of heaven nor residents of hell. You are residents of the most auspicious confluence age. Only you Brahmins know this confluence age; no one else knows it. Even though you know it, you forget it. Now, how can you explain to people? They are trapped by the chains of Ravan. The kingdom of Rama doesn’t exist now. They continue to burn effigies of Ravan which proves that this is the kingdom of Ravan. You understand, numberwise, what the kingdom of Rama is and what the kingdom of Ravan is. The Father comes at the confluence age and so heaven and hell are compared with each other at this time. Those who reside in the iron age are called the residents of hell and those who reside in the golden age are called the residents of heaven. Those who are residents of heaven are called pure and those who are residents of hell are called impure. Everything of yours is unique. So you now know this most auspicious confluence age. You understand that you are Brahmins. The picture of the clans is very good. You can explain using that picture. You should show the contrast so that people are able to understand that they are impure, poverty-stricken residents of hell. You should write: This is now the old, iron-aged world. Heaven, the golden age, is the new world. Are you residents of hell or residents of heaven? Are you deities or devils? None of them would say that they are residents of heaven. Some think that they are sitting in heaven. Oh! this is hell! Where is heaven, the golden age? This is the kingdom of Ravan and this is why people burn an effigy of Ravan. Those people have so many answers. There is so much debate about God being omnipresent. You children very clearly ask: Is this the new world or the old world? You have to show such a clear contrast. Very good brains are needed for this. You should write tactfully so that people ask themselves: Am I a resident of heaven or of hell? Is this the old world or the new world? Is this the kingdom of Rama or the kingdom of Ravan? Are we residents of the old, iron-aged world or of the new world? You should write this in Hindi and then translate it into English and Gujarati. Let people ask themselves: Where am I a resident of? When a person dies, people say that he has gone to heaven, but heaven doesn’t exist now. It is now the iron age. So, surely, rebirth will also be here. The golden age is called heaven, so how could anyone go there now? All of these are things that have to be churned. The contrast should be shown very clearly. Write, “God speaks: Each one of you should ask yourself: Am I a resident of the golden-aged kingdom of Rama or a resident of the iron-aged kingdom of Ravan?” You Brahmins are residents of the confluence age, but no one knows you. You are completely different from everyone else. You know the golden and iron ages accurately. Only you can ask: Are you vicious, corrupt beings or viceless, elevated beings? You can write a book on this. You have to write new things through which people can understand that God is not omnipresent. Seeing what you have written, they will come inside to ask you about it themselves. Everyone would call this the iron age. No one can call this the golden aged deity kingdom. Is this hell or heaven? Write such a first-class article that people can understand that they truly are impure residents of the iron age and that they don’t have any divine virtues. There cannot be anyone golden aged in the iron age. Churn the ocean of knowledge in this way and write these things. Anyone who takes the initiative is Arjuna. Arjuna’s name is mentioned in the Gita. Baba says: Everything in the Gita is like a pinch of salt in a sackful of flour. There is so much difference between sugar and salt. Sugar is sweet and salt is salty. By writing in the Gita, “God Krishna speaks”, they have made the Gita salty. People are trapped so much in that bog. The poor ones don’t know the secrets of knowledge. God speaks knowledge to only you. No one else knows it. Knowledge is very easy, but some forget that God is teaching them; they even forget the T eacher. Otherwise, students would never forget their teacher. They repeatedly say: Baba, I forget You. Baba says: Maya is no less. You have become body conscious and are committing a lot of sins. There isn’t a single day when you don’t commit any sins. The main sin you commit is that you forget the Father’s orders. The Father orders you: Manmanabhav! Consider yourself to be a soul. You don’t obey this order and so you will surely perform sinful acts. There are many sins committed. The Father’s order is very easy and very difficult. No matter how much you beat your heads, you still forget because there has been body consciousness for half the cycle. Some are unable to sit in accurate remembrance for even five minutes. If you stayed in remembrance throughout the whole day, you would reach your karmateet stage. The Father has explained: This requires effort. You study a worldly study very well. You have so much practice of studying history and geography. However, you have no practice of the pilgrimage of remembrance at all. To consider yourself to be a soul and to remember the Father is something new. The conscience says: We should remember such a Father very well. You take little time to eat a piece of bread, but that, too, is in remembrance of Baba. The more you stay in remembrance, the purer you will become. There are many children who have sufficient money for them to live on the interest. Simply continue to remember the Father and eat a piece of bread, that’s all! However, Maya doesn’t allow you to stay in remembrance. However much effort each of you made in the previous cycle, you will make the same effort now. This takes time. It is not possible for someone to race ahead quickly and reach there. Here, you have two fathers. The unlimited Father doesn’t have a body of His own. He enters this one and speaks to you. Therefore, you should follow the Father’s shrimat. The Father gives you children this shrimat: Forget your bodies and all bodily religions and consider yourselves to be souls. You came here pure and then, while taking 84 births, you, the souls, became impure. You now have to follow shrimat in order to become pure. Only then will the Father guarantee that your sins will be cut away and that you will become pure souls. Then, you will receive a pure body there. Those who belong to this clan will listen to you and begin to think about these things. They would say: What you are saying is right. If you want to become pure, don’t cause anyone sorrow. Become pure in your thoughts, words and deeds. Storms will come to your mind. You are claiming the unlimited sovereignty. Whether you tell the truth or not, the Father Himself says: Many sinful thoughts of Maya will come, but you mustn’t perform any sinful acts through the physical organs. You mustn’t commit any sin through the physical organs. So, you should write these contrasting things very clearly. Krishna takes the full 84 births whereas Shiva doesn’t take rebirth. That one is a deity, full of all virtues, and this One is the Father. You have seen how they have made such big images of the Pandavas. This indicates that they had such big, broad and unlimited intellects. They had big intellects but those people then portrayed them with big bodies. No one else can have such a broad and unlimited intellect as you. You have Godly intellects. On the path of devotion, they make such big pictures and waste their money. They have made so many Vedas, scriptures and Upanishads and incurred so much expense. The Father says: You have been wasting so much money. The unlimited Father is now complaining. You feel that Baba gave you a lot of wealth. He taught you Raja Yoga and made you into kings of kings. Some study a worldly study and become a barrister etc. and then earn a huge income. This is why it is said: Knowledge is a source of income . This Godly study is also a source of incomethrough which you receive the unlimited sovereignty. There is no knowledge in the Bhagawad or the Ramayana etc. There is no aim or objective etc. The knowledge-full Father sits here and explains to you children. This is a completely new study; and, who is teaching you? God! He is teaching you to make you into the masters of the new world. Lakshmi and Narayan claimed a high status through this study. There is a vast difference between the king and the subjects. If someone’s fortune opens, his boat can go across. Students can understand whether they are studying and whether they are then able to teach others or not. You should pay full attention to the study. Because of having stone intellects, they don’t understand anything. You have to become those with golden intellects. Only those who stay in service will be able to make them golden. You can also explain knowledge to someone by using the badge : Claim the unlimited inheritance from the unlimited Father. Bharat was heaven; it is a matter of only yesterday. There is so much difference between something being 5000 years and something being hundreds of thousands of years. When you explain to them, they don’t understand anything, because it is as though they have completely stone intellects. This badge is like the Gita for you – it includes the whole study. People only remember the Gita of the path of devotion. Through the Gita that you hear from the Father, you receive salvation for 21 births. You are the ones who started the study of the Gita in the beginning. You are the ones who started worshipping. You now have to make effort and liberate poor people from the chains of the path of devotion. Continue to explain to someone or other and one or two will emerge from them. If five or six people come together, you should try to get them to fill in forms individually and explain to them individually. Otherwise, if even one person among them is not that good, he would spoil the others. You must definitely get each one of them to fill in a form separately. They should not even be able to see one another’s form s. Then they would understand. You need to have all these tactics because only then can you become successful. The Father is also the Businessman. Those who are clever will do good business. The Father brings so much profit. If a group comes at the same time, tell them to fill in the forms individually. If they are all religious minded, get them to sit together and ask them: Have you studied the Gita? Do you believe in the deities? Baba has said that you should only give this knowledge to the devotees. My devotees and the devotees of the deities will quickly understand. To change a stone into a philosopher’s stone is not like going to your aunty’s home! Body consciousness is the most severe, the most dirty illness of all. Until your body consciousness is broken, it is difficult to reform yourself. For this, you need to have the full intoxication of becoming Narayan. We came here bodiless and we now have to return bodiless. What is there here? The Father has said: Remember Me. This requires effort. The destination is very high. You can tell from their behaviour which ones will become good helpers, as they did in the previous cycle. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remain pure in your thoughts, words and deeds. Be cautious that you don’t perform any sinful acts through your physical organs. In order to make yourself the soul pure you definitely have to stay in remembrance.
  2. In order to be liberated from the severe illness of body consciousness, maintain the intoxication of becoming Narayan. Practise: I came bodiless and I now have to return home bodiless.
Blessing: May you be liberated from all sins with the power of realisation and not try to be clever with the cleverest Father.
Some children try to be clever with the cleverest Father of all in order to prove their work and make their names appear good. They do have realisation at that time, but that realisation does not have any power and so transformation does not take place. Some understand that it is not right, but they then think that their names should not be spoilt and so they kill their own consciences. This too is accumulated in the account of sin. Therefore, stop being so clever and transform yourself and be liberated from your sins with the realisation of a true heart.
Slogan: To be free from all the different bondages in this life is the stage of being liberated in life.

*** Om Shanti ***

Special effort to become equal to Father Brahma.

An angelic life is a life that is free from bondage. Though there is the bondage of service, it is so fast that no matter how much you do, while doing all of that you are constantly free. You are loving to the extent that you are detached. Let there always be the experience of the stage of freedom because you are not dependent on your body or your karma.

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 14 JANUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 January 2019

To Read Murli 13 January 2019 :- Click Here
14-01-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें सम्पूर्ण पावन बनना है इसलिए कभी किसको दु:ख नहीं दो, कर्मेन्द्रियों से कोई विकर्म न हो, सदा बाप के फरमान पर चलते रहो।”
प्रश्नः- पत्थर से पारस बनने की युक्ति क्या है? कौन सी बीमारी इसमें विघ्न रूप बनती है?
उत्तर:- पत्थर से पारस बनने के लिए पूरा नारायणी नशा चाहिए। देह-अभिमान टूटा हुआ हो। यह देह-अभिमान ही कड़े ते कड़ी बीमारी है। जब तक देही-अभिमानी नहीं तब तक पारस नहीं बन सकते। पारस बनने वाले ही बाप के मददगार बन सकते हैं। 2. सर्विस भी तुम्हारी बुद्धि को सोने का बना देगी। इसके लिए पढ़ाई पर पूरा अटेन्शन चाहिए।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप सावधानी देते हैं कि बच्चे अपने को संगमयुगी समझो। सतयुगी तो नहीं समझेंगे। तुम ब्राह्मण ही अपने को संगमयुगी समझेंगे। और तो सभी अपने को कलियुगी समझेंगे। बहुत फ़र्क है – सतयुग और कलियुग, स्वर्गवासी वा नर्कवासी। तुम तो न स्वर्गवासी हो, न नर्कवासी। तुम हो पुरूषोत्तम संगमवासी। इस संगमयुग को तुम ब्राह्मण ही जानते हो और कोई नहीं जानते। तुम भल जानते भी हो परन्तु भूल जाते हो। अब मनुष्यों को कैसे समझायें। वे तो रावण की जंजीरों में फँसे हुए हैं। रामराज्य तो है नहीं। रावण को जलाते रहते हैं, इससे सिद्ध है कि रावण राज्य है। रामराज्य क्या है और रावणराज्य क्या है, यह भी तुम समझते हो – नम्बरवार। बाप आते हैं संगमयुग पर तो यह भेंट भी अभी की जाती है – सतयुग और कलियुग की। कलियुग में रहने वालों को नर्कवासी, सतयुग में रहने वालों को स्वर्गवासी कहा जाता है। स्वर्गवासी को पावन, नर्कवासी को पतित कहा जाता है। तुम्हारी तो बात ही निराली है। तो तुम इस पुरूषोत्तम संगमयुग को जानते हो। तुम समझते हो हम ब्राह्मण हैं। वर्णो वाला चित्र भी बहुत अच्छा है। इस पर भी तुम समझा सकते हो। कान्ट्रास्ट बताना चाहिए, जो मनुष्य अपने को नर्कवासी पतित कंगाल समझें। लिखना चाहिए अब यह पुरानी कलियुगी दुनिया है। सतयुग स्वर्ग नई दुनिया है। तुम नर्कवासी हो या स्वर्गवासी? तुम देवता हो या असुर? ऐसे तो कोई नहीं कहेंगे कि हम स्वर्गवासी हैं। कई ऐसे समझते हैं हम तो स्वर्ग में बैठे हैं। अरे यह तो नर्क है ना। सतयुग है कहाँ। यह रावणराज्य है, तब तो रावण को जलाते हैं। उन्हों के पास भी कितने जवाब होते हैं। सर्वव्यापी पर भी कितनी डिबेट करते हैं। तुम बच्चे तो एकदम क्लीयर पूछते हो – अब नई दुनिया है या पुरानी दुनिया। ऐसा क्लीयर कान्ट्रास्ट बताना है, इसमें बहुत ब्रेन चाहिए। ऐसा युक्ति से लिखना चाहिए जो मनुष्य अपने से पूछें कि मैं नर्कवासी हूँ या स्वर्गवासी? यह पुरानी दुनिया है या नई दुनिया है? यह रामराज्य है या रावण राज्य? हम पुरानी कलियुगी दुनिया के रहवासी हैं या नई दुनिया के वासी हैं? हिन्दी में लिखकर फिर अंग्रेजी, गुजराती में ट्रांसलेट करें। तो मनुष्य अपने से पूछें कि हम कहाँ के रहवासी हैं। कोई शरीर छोड़ते हैं तो कहते हैं स्वर्ग पधारा लेकिन स्वर्ग अभी है कहाँ? अभी तो कलियुग है। जरूर पुनर्जन्म भी यहाँ ही लेंगे ना। स्वर्ग तो सतयुग को कहा जाता है, वहाँ अभी कैसे जायेंगे। यह सब विचार सागर मंथन करने की बातें हैं। ऐसे क्लीयर कान्ट्रास्ट हो, उसमें लिख दो भगवानुवाच – हर एक अपने से पूछे मैं सतयुगी रामराज्य निवासी हूँ या कलियुगी रावण राज्य का निवासी हूँ? तुम ब्राह्मण हो संगमवासी, तुमको तो कोई जानते ही नहीं। तुम हो सबसे न्यारे। तुम सतयुग कलियुग को यथार्थ जानते हो। तुम ही पूछ सकते हो कि तुम विकारी भ्रष्टाचारी हो या निर्विकारी श्रेष्ठाचारी हो? यह तुम्हारा किताब भी बन सकता है। नई-नई बातें निकालनी पड़े ना, जिससे मनुष्य समझें कि ईश्वर सर्वव्यापी नहीं हैं। तुम्हारी यह लिखत देख आपेही अन्दर से पूछेंगे। इसको आइरन एज तो सब कहेंगे। सतयुगी डीटी राज्य तो इनको कोई कह न सके। यह हेल है या हेविन। ऐसी फर्स्ट-क्लास लिखत लिखो कि मनुष्य अपने को समझ जाएं कि हम बरोबर नर्कवासी पतित हैं। हमारे में दैवीगुण तो हैं नहीं। कलियुग में सतयुगी कोई हो न सके। ऐसे विचार सागर मंथन कर लिखना चाहिए। जो ओटे सो अर्जुन… गीता में अर्जुन का नाम दिया है।

बाबा कहते हैं यह जो गीता है उसमें आटे में लून (नमक) है। लून और चीनी में कितना फ़र्क है….वह मीठा वह खारा। कृष्ण भगवानुवाच लिखकर गीता ही खारी कर दी है। मनुष्य कितना दलदल में फँस पड़ते हैं। बिचारों को ज्ञान के राज़ का भी पता नहीं है, ज्ञान भगवान तुमको ही सुनाते हैं और किसको पता ही नहीं। नॉलेज तो बहुत सहज है। परन्तु भगवान पढ़ाते हैं यह भूल जाते हैं। टीचर को ही भूल जाते हैं। नहीं तो स्टूडेन्ट कभी टीचर को भूलते नहीं हैं। घड़ी-घड़ी कहते हैं बाबा हम आपको भूल जाते हैं। बाबा कहते हैं, माया कम नहीं है। तुम देह-अभिमानी बन पड़ते हो। बहुत विकर्म बन जाते हैं। ऐसा कोई खाली दिन नहीं जो विकर्म न होते हों। एक मुख्य विकर्म यह करते हो जो बाप के फरमान को ही भूल जाते हो। बाप फरमान करते हैं मनमनाभव, अपने को आत्मा समझो। यह फरमान मानते नहीं हैं तो जरूर विकर्म ही होगा। बहुत पाप हो जाते हैं। बाप का फरमान बहुत सहज भी है तो बहुत कड़ा है। कितना भी माथा मारे फिर भी भूल जायेंगे क्योंकि आधाकल्प का देह-अभिमान है ना। 5 मिनट भी यथार्थ रीति याद में बैठ नहीं सकते। अगर सारा दिन याद में रहें फिर तो कर्मातीत अवस्था हो जाए। बाप ने समझाया है इसमें मेहनत है। तुम वह जिस्मानी पढ़ाई तो अच्छी रीति पढ़ते हो। हिस्ट्री-जॉग्राफी पढ़ने की कितनी प्रैक्टिस है। परन्तु याद की यात्रा का बिल्कुल ही अभ्यास नहीं। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना – यह है नई बात। विवेक कहता है ऐसे बाप को तो अच्छी रीति याद करना चाहिए। थोड़ा टाइम निकाल रोटी टुक्कड़ खाते हैं, वह भी बाबा की याद में। जितना याद में रहेंगे उतना पावन बनेंगे। ऐसे बहुत बच्चे हैं, जिनके पास इतने पैसे हैं जो ब्याज मिलता रहे। बाप को याद करते रोटी टुक्कड़ खाते रहें, बस। परन्तु माया याद करने नहीं देती। कल्प पहले जिसने जितना पुरूषार्थ किया है उतना ही करेंगे। टाइम लगता है। कोई जल्दी दौड़ी लगाकर पहुँच जायें यह हो न सके। इसमें तो दो बाप हैं। बेहद के बाप को अपना शरीर है नहीं। वह इनमें प्रवेश होकर बात करते हैं। तो बाप की श्रीमत पर चलना चाहिए। बाप बच्चों को यह श्रीमत देते हैं कि देह सहित सब धर्म छोड़ अपने को आत्मा समझो। तुम पवित्र आये थे। 84 जन्म लेते-लेते तुम्हारी आत्मा पतित बनी है। अब पावन बनने के लिए श्रीमत पर चलो, तब बाप गैरन्टी करते हैं तुम्हारे पाप कट जायेंगे, तुम्हारी आत्मा कंचन बन जायेगी, फिर वहाँ देह भी कंचन मिलेगी। जो इस कुल का होगा वह तुम्हारी बातें सुनकर सोच में पड़ जायेगा, कहेगा तुम्हारी बात तो ठीक है। पावन बनना है तो किसको दु:ख नहीं देना है। मन्सा, वाचा, कर्मणा पवित्र बनना है। मन्सा में तूफान आयेंगे। तुम बेहद की बादशाही लेते हो ना, तुम भल सच बताओ वा न बताओ परन्तु बाप खुद कहते हैं – माया के बहुत विकल्प आयेंगे, परन्तु कर्मेन्द्रियों से कभी विकर्म नहीं करना। कर्मेन्द्रियों से कोई पाप नहीं करना है।

तो यह कान्ट्रास्ट की बातें अच्छी रीति लिखनी चाहिए। कृष्ण पूरे 84 जन्म लेते हैं और शिव पुनर्जन्म नहीं लेते। वह सर्वगुण सम्पन्न देवता है, यह तो है ही बाप। तुमने देखा है पाण्डवों के चित्र कितने बड़े-बड़े बनाये हैं। इसका मतलब है कि वह इतनी बड़ी विशाल बुद्धि वाले थे। बुद्धि बड़ी थी, उन्होंने फिर शरीर को बड़ा बना दिया है। तुम्हारी जैसी विशाल बुद्धि और कोई की हो न सके। तुम्हारी है ईश्वरीय बुद्धि। भक्ति में कितने बड़े-बड़े चित्र बनाकर पैसे बरबाद करते हैं। कितने वेद, शास्त्र, उपनिषद बनाए कितना खर्चा किया। बाप कहते हैं तुम कितने पैसे गंवाते आये हो। बेहद का बाप उल्हना देते हैं। तुम फील करते हो बाबा ने पैसे बहुत दिये। राजयोग सिखलाकर राजाओं का राजा बनाया। वह जिस्मानी पढ़ाई पढ़कर बैरिस्टर आदि बनते हैं, फिर उससे कमाई होती है इसलिए कहा जाता है नॉलेज सोर्स आफ इनकम है। यह ईश्वरीय पढ़ाई भी सोर्स आफ इनकम है, जिससे बेहद की बादशाही मिलती है। भागवत, रामायण आदि में कोई नॉलेज नहीं है। एम आबजेक्ट ही कुछ नहीं। बाप जो नॉलेजफुल है वह बैठ तुम बच्चों को समझाते हैं। यह है बिल्कुल नई पढ़ाई। वह भी कौन पढ़ाते हैं? भगवान। नई दुनिया का मालिक बनाने के लिए पढ़ाते हैं। इन लक्ष्मी-नारायण ने यह पढ़ाई से ऊंच पद पाया है। कहाँ राजाई, कहाँ प्रजा। कोई की तकदीर खुल जाए तो बेड़ा पार है। स्टूडेन्ट समझ सकते हैं कि हम पढ़ते हैं और फिर पढ़ा सकते हैं वा नहीं। पढ़ाई पर पूरा अटेन्शन रखना चाहिए। पत्थरबुद्धि होने के कारण कुछ भी समझते नहीं हैं। तुमको बनना है सोने की बुद्धि। वह उन्हों की बनेगी जो सर्विस में रहेंगे। बैज पर भी किसको समझा सकते हो। बेहद के बाप से बेहद का वर्सा लो। भारत स्वर्ग था ना। कल की बात है। कहाँ 5 हजार वर्ष की बात, कहाँ लाखों वर्ष की बात। कितना फ़र्क है। तुम समझाते हो तो भी समझते नहीं हैं जैसे बिल्कुल ही पत्थरबुद्धि हैं। यह बैज ही तुम्हारे लिए जैसे एक गीता है, इसमें सारी पढ़ाई है। मनुष्यों को तो भक्ति मार्ग की गीता ही याद रहती है। अभी तुम जो बाप द्वारा गीता सुनते हो उससे तुम 21 जन्म के लिए सद्गति को पाते हो। शुरू शुरू में तुमने ही गीता पढ़ी है। पूजा भी तुमने ही शुरू की है। अब पुरूषार्थ कर गरीबों को भक्ति मार्ग की जंजीरों से छुड़ाना है। कोई न कोई को समझाते रहो। उसमें से एक दो निकलेंगे। अगर 5-6 इकट्ठे आते हैं तो कोशिश कर अलग-अलग फार्म भराए अलग-अलग समझाना चाहिए। नहीं तो उन्हों में एक भी ऐसा होगा तो औरों को खराब कर देगा। फार्म तो जरूर अलग भराओ। एक दो का देखें भी नहीं, तो वह समझ सकेंगे। यह सब युक्तियां चाहिए तब तुम सक्सेसफुल होते जायेंगे।

बाप भी व्यापारी है, जो होशियार होंगे वह अच्छा व्यापार करेंगे। बाप कितना फायदे में ले जाते हैं। झुण्ड इकट्ठा आये तो बोलो फार्म अलग-अलग भरना है। अगर सब रिलीजस माइन्ड हो तो इक्ट्ठा बिठाकर पूछना चाहिए। गीता पढ़ी है? देवताओं को मानते हो? बाबा ने कहा है भक्तों को ही सुनाना है। हमारे भक्त और देवताओं के भक्त वह जल्दी समझेंगे। पत्थर को पारस बनाना कोई मासी का घर नहीं है। देह-अभिमान कड़े ते कड़ी बहुत गन्दी बीमारी है। जब तक देह-अभिमान नहीं टूटा है तब तक सुधरना बड़ा मुश्किल है। इसमें तो पूरा नारायणी नशा चाहिए। हम अशरीरी आये, अशरीरी बनकर जाना है। यहाँ क्या रखा है। बाप ने कहा है मुझे याद करो। इसमें ही मेहनत है, बड़ी मंजिल है। चलन से मालूम पड़ता है यह अच्छे मददगार बनेंगे कल्प पहले मिसल। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) मन्सा, वाचा, कर्मणा पवित्र रहना है। कर्मेन्द्रियों से कोई विकर्म न हो – इसकी सम्भाल करनी है। आत्मा को कंचन बनाने के लिए याद में जरूर रहना है।

2) देह-अभिमान की कड़ी बीमारी से छूटने के लिए नारायणी नशे में रहना है। अभ्यास करो हम अशरीरी आये थे, अब अशरीरी बनकर वापस जाना है।

वरदान:- चतुरसुजान बाप से चतुराई करने के बजाए महसूसता की शक्ति द्वारा सर्व पापों से मुक्त भव
कई बच्चे चतुरसुजान बाप से भी चतुराई करते हैं – अपना काम सिद्ध करने के लिए अपना नाम अच्छा करने के लिए उस समय महसूस कर लेते हैं लेकिन उस महसूसता में शक्ति नहीं होती इसलिए परिवर्तन नहीं होता। कई हैं जो समझते हैं यह ठीक नहीं है लेकिन सोचते हैं कहीं नाम खराब न हो इसलिए अपने विवेक का खून करते हैं, यह भी पाप के खाते में जमा होता है इसलिए चतुराई को छोड़ सच्चे दिल की महसूसता से स्वयं को परिवर्तन कर पापों से मुक्त बनो।
स्लोगन:- जीवन में रहते भिन्न-भिन्न बंधनों से मुक्त रहना ही जीवनमुक्त स्थिति है।

ब्रह्मा बाप समान बनने के लिए विशेष पुरुषार्थ

फरिश्ता जीवन बन्धनमुक्त जीवन है भल सेवा का बन्धन है, लेकिन इतना फास्ट गति है जो जितना भी करे, उतना करते हुए भी सदा फ्री हैं, जितना ही प्यारा, उतना ही न्यारा। सदा ही स्वतंत्रता की स्थिति का अनुभव हो क्योंकि शरीर और कर्म के अधीन नहीं हैं।

Font Resize