14 august ki murli

TODAY MURLI 14 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 14 August 2020

14/08/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come to decorate you with the jewels of knowledge and take you back home with Him. Then He will send you to your kingdom. Therefore, remain in the infinite happiness of this. Have love for only the one Father.
Question: What is the basis of making your dharna strong?
Answer: In order to make your dharna strong, always make it firm within yourself that whatever happened today was good and that it will happen again after a cycle. Whatever has happened also happened a cycle ago; nothing new! This war took place 5000 years ago and it will definitely take place again. This haystack has to be destroyed. Constantly remain in the awareness of the drama in this way and your dharna will continue to become strong.
Song: The Resident of the faraway land has come to the foreign land. Audio Player

Om shanti. You children also previously came from the faraway land into this foreign land. You are now unhappy in this foreign land. This is why you call out to be taken back to your land, your home. You were the ones who called out, were you not? You have been remembering Him for a long time, and so the Father also comes with great happiness. He knows that He is going to His children. I will take the children who have been burnt by sitting on the pyre of lust back home with Me and send them to their kingdom. I am decorating you with knowledge for that. You children should be even happier than the Father. Since the Father has come, you should belong to Him. You should love Him a great deal. Baba explains to you every day. It is the soul that speaks: Baba, You have come after 5000 years, according to the drama. We are receiving treasures of great happiness. Baba, You are filling our aprons. You are taking us back to our home, the land of peace, and will then send us to our kingdom. Therefore, there should be such infinite happiness. The Father says: I have to come to this foreign kingdom. The Father’s part is very sweet and wonderful and especially so when He comes into this foreign land. Only you now understand these aspects. This knowledge will then disappear; there is no need for it there. Baba says: You have become so senseless. Although you are actors in this drama, you don’t know the Father. You have forgotten the Father who is Karankaravanhar and you have forgotten what He does and what He inspires you to do. He comes to make the entire old world into heaven and to give knowledge. He is the Ocean of Knowledge. Therefore, He definitely carries out the task of giving knowledge. He also inspires you to do the same: Give everyone the message that the Father says to everyone: Renounce the consciousness of your body and remember Me and your sins will be absolved. I am giving you shrimat. All are sinful souls. At this time the whole tree is tamopradhan; it has reached the stage of total decay. When fire breaks out in a bamboo jungle, everything is completely burnt and destroyed. Where would you find water in a jungle to put out a fire? This old world is also to be set on fire. The Father says: Nothing new! The Father continues to give you very good points which you should note down. The Father has explained that all other founders of religions simply come to establish their own religion. They cannot be called prophets or messengers etc. This has to be written with great tact. Shiv Baba explains to the children: All are children, all are brothers. On every picture and written material you must definitely write: Shiv Baba explains this. The Father says: Children, I have come to establish the golden-aged deity religion which has one hundred percentage happiness, peace and purity. This is why it is called heaven. There is no name or trace of sorrow there. However, I become the instrument to inspire the destruction of all the other religions. In the golden age there is just the one religion. That is the new world. I inspire the old world to be destroyed. No one else does this business. It is said that destruction takes place through Shankar. Vishnu is the dual-form of Lakshmi and Narayan. Prajapita Brahma also exists here. He is changing from an impure human to a pure angel. This is why it is said: “The deity Brahma through whom the deity religion is established.” This Baba becomes the first prince of the deity religion. Therefore, establishment takes place through Brahma and destruction takes place through Shankar. The pictures have to be displayed. These pictures have been created for them to be explained. No one knows the meaning of them. The meaning of the discus of self-realisation has also been explained to you. The Supreme Father, the Supreme Soul, knows the beginning, the middle and the end of the world. He has all the knowledge. Therefore, He is the Spinner of the discus of self-realisation. He knows that only He can give you this knowledge. Baba would not say that He has to become like a lotus flower. In the golden age you live like lotus flowers. This isn’t said of sannyasis; they go off into the forests. The Father also says that they were pure and satopradhan at first; they supported Bharat with their power of purity. There is no other land as pure as Bharat was. Just as there is praise of the Father, so there is praise of Bharat. When Lakshmi and Narayan used to rule Bharat, it was heaven. Where did they then go? Only you know this. It doesn’t enter anyone else’s intellect that those deities became worshippers while taking 84 births. You now full knowledge that you are becoming worthy-of-worship deities and that you will then become worshippers, ordinary human beings. Human beings are human beings. There are no different types of human beings like those in the pictures they have created. All of those pictures belong to the path of devotion. Your knowledge is incognito. Not everyone will take this knowledge. Only those who are the leaves of this deity tree will take this knowledge. Those who believe in others will not listen to this knowledge. Only those who worship Shiva and the deities will come here. First of all, they worship Me and then, when they become worshippers, they even worship themselves. Therefore, you now have the happiness that, having become worshippers from being worthy of worship, you are now once again becoming worthy of worship. People celebrate with so much happiness. The happiness with which people celebrate here is only temporary. There, you have constant happiness. Deepmala is not really for invoking Lakshmi. Deepmala takes place at the coronation. None of the festivals that are celebrated now exist there. There, there is happiness and only happiness. This is the only time when you know the beginning, the middle and the end. Write down all of these points. Sannyasis have hatha yoga, whereas this is Raj Yoga. The Father says: On every page, you must definitely write Shiv Baba’s name somewhere on the page. Shiv Baba is explaining to us children. All the incorporeal souls sitting here are in their corporeal forms. Therefore, the Father also has to explain through a corporeal form. He says: Consider yourselves to be souls and remember Me. God Shiva speaks to the children. He Himself is present here. The main points should be written down in a book so clearly that anyone who reads it will automatically understand this knowledge. Because these are the versions spoken by God Shiva, they will enjoy reading them. This is something for intellects to do. Baba has to take a body on loan in order to give you this knowledge. This soul is also listening. You children should have a great deal of intoxication. There should be great love for the Father. This is His chariot. This is the last of this one’s many births. He has entered this one. You become Brahmins through Brahma and you then change from ordinary humans into deities. This picture is so clear. Keep a photograph of yourself and, above it or next to it, also have a double-crowned photograph of yourself. We are becoming like that through the power of yoga. Shiv Baba is up above. By remembering Him we change from ordinary humans into deities. This is absolutely clear. You should have a book with coloured illustrations so that people become happy when they see them. Have some printed that are not too expensive for the poor. You can reduce the size of the pictures by first making them small and then even smaller, as long as the significance in them is included. The picture of the God of the Gita is the main one. Have the picture of Krishna on their Gita and the picture of Trimurti Shiva on our Gita and it will be easy to explain to others. Brahmins, the children of Prajapita Brahma, exist here. Prajapita Brahma cannot exist in the subtle region. They say, “Salutations to the deity Brahma, Salutations to the deity Vishnu”, but who are deities? Deities used to rule here. There used to be deityism. You have to explain all of these things very clearly. Brahma becomes Vishnu, and Vishnu becomes Brahma. Both are here. You have the pictures. Therefore, you can explain them. First of all, prove who Alpha is and everything else will be proved. You have many points to explain. All others come to establish their own religions. The Father inspires both establishment and destruction. Of course, everything happens according to the drama. Brahma can speak, but can Vishnu speak? What could he say in the subtle region? All of these matters have to be understood. When you understand all of these things here, you are then transferred to a higher class. You then go to another classroom. You are not just going to stay in the incorporeal world. You then have to come down, numberwise. There is just one foremost point that has to be emphasized: It happened like this a cycle ago too. Such seminars etc. also took place a cycle ago. Such points also emerged then. Whatever happens today is good and it will happen again after a cycle. Become strong by continuing to imbibe in this way. Baba has told you to print in the magazines: The war that will take place is nothing new; it also took place 5000 years ago. Only you understand these things. People outside cannot understand these things. They simply say: These are wonderfulthings. Achcha, we will come back at some time to understand them. “God Shiva speaks to the children.” When such words are written everywhere, they will come and understand. The name Prajapita Brahma Kumars and Kumaris is written here. Brahmins are created through Prajapita Brahma. It is said: Salutations to the Brahmins who are to become deities. Which Brahmins? You can explain to the brahmin priests who the children of Brahma really are. Prajapita Brahma has so many children. Therefore, they must definitely have been adopted here. Those who belong to your clan will understand these things very well. You have become the Father’s children. The Father even adopts Brahma. Otherwise, where would someone with a body emerge from? Only you Brahmins will understand these things; sannyasis will not. In Ajmer, there are brahmin priests, whereas in Haridwar, there are just sannyasis everywhere. There are brahmin guides but they are greedy (for money). Tell them: You are physical guides; now become spiritual guides. You too are called guides. They don’t understand what “Pandava Army” means. Baba is the Head of the Pandavas. He says: Children, constantly remember Me alone and you will be absolved of your sins and you will go home. Then, there will be the huge pilgrimage to the land of immortality. The pilgrimage to the incorporeal world will be such a huge one. All souls will fly there like a swarm of insects. When a queen bee goes somewhere, all the other bees follow her. It is a wonder! All souls will also go like a swarm of mosquitoes. There is the procession of Shiva. All of you are brides and I, the Bridegroom, have come to take you all back home. You have become dirty! This is why I am decorating you before I take you back home with Me. Those who don’t decorate themselves will experience punishment. Everyone has to return home. When people sacrifice themselves at Kashi, they experience so much punishment in just a second. Human beings continue to cry out. It will be the same there. They will feel as though they are experiencing the sorrow and punishment of many births. That feeling of sorrow is such that it is as though you are receiving punishment for the sins of many births. The more punishment you experience, the lower the status you claim. This is why Baba says: Settle your karmic accounts with the power of yoga. Continue to accumulate the power of remembrance. Knowledge is very easy. Now perform every act while being accurate in knowledge. Donate knowledge to those who are worthy. When a donation of money is made to a sinful soul, the one who made the donation is affected. He too becomes a sinful soul. You must never donate money to people who will then go and commit sin with it. There are many people in the world ready to give to sinful souls. Therefore, you must no longer do that. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost, now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Now perform every act while being accurate in knowledge. Only donate to those who are worthy. Do not have any give and take of money etc. with sinful souls. Settle your past karmic accounts with the power of yoga.
  2. In order to maintain infinite happiness, talk to yourself: Baba, You have come to give us the treasures of infinite happiness. You are filling our aprons. We will first go with You to the land of peace and then to our kingdom.
Blessing: May you be a victorious mahavir who invokes Maya, the enemy, with the awareness of your victory every cycle.
Victorious mahavir children are not afraid when they see their paper, because, as they are trikaldarshi, they know that they are victorious every cycle. Mahavir children can never say: Baba, do not send Maya to us. Have mercy. Give me blessings. Give me power. What can I do? Show me the path… This is also weakness. Mahavir children invoke their enemy: Come so that I can be victorious.
Slogan: The warning of time is for you to become equal and complete.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 14 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

14-08-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बाप आये हैं तुम्हारा ज्ञान रत्नों से श्रृंगार कर वापस घर ले जाने, फिर राजाई में भेज देंगे तो अपार खुशी में रहो, एक बाप से ही प्यार करो”
प्रश्नः- अपनी धारणा को मजबूत (पक्का) बनाने का आधार क्या है?
उत्तर:- अपनी धारणा को मजबूत बनाने के लिए सदैव यह पक्का करो कि आज के दिन जो पास हुआ अच्छा हुआ फिर कल्प के बाद होगा। जो कुछ हुआ कल्प पहले भी ऐसे हुआ था, नथिंग न्यु। यह लड़ाई भी 5 हज़ार वर्ष पहले लगी थी, फिर लगेगी जरूर। इस भंभोर का विनाश होना ही है…… ऐसे हर पल ड्रामा की स्मृति में रहो तो धारणा मजबूत होती जाये।
गीत:- दूरदेश का रहने वाला……… Audio Player

ओम् शान्ति। बच्चे पहले भी दूरदेश से पराये देश में आये हैं। अब इस पराये देश में दु:खी हैं इसलिए पुकारते हैं अपने देश घर ले चलो। तुम्हारी पुकार है ना। बहुत समय से याद करते आये हो तो बाप भी खुशी से आता है। जानते हैं मैं जाता हूँ बच्चों के पास। जो बच्चे काम चिता पर बैठ जल गये हैं उन्हों को अपने घर भी ले आऊं और फिर राजाई में भेज दूँ। उसके लिए ज्ञान से श्रृंगार भी करूँ। बच्चे भी बाप से जास्ती खुश होने चाहिए। बाप जबकि आये हैं तो उनका बन जाना चाहिए। उनको बहुत लव करना चाहिए। बाबा रोज़ समझाते हैं, आत्मा बात करती है ना। बाबा 5 हज़ार वर्ष बाद ड्रामा अनुसार आप आये हैं, हमको बहुत खुशी का खज़ाना मिल रहा है। बाबा आप हमारी झोली भर रहे हैं, हमको अपने घर शान्तिधाम में ले चलते हैं फिर राजधानी में भेज देंगे। कितनी अपार खुशी होनी चाहिए। बाप कहते हैं हमको इस पराई राजधानी में ही आना है। बाप का बड़ा मीठा और वन्डरफुल पार्ट है। खास जबकि इस पराये देश में आये हैं। यह बातें तुम अभी ही समझते हो फिर यह ज्ञान प्राय: लोप हो जाता है। वहाँ दरकार ही नहीं रहती। बाबा कहते हैं तुम कितने बेसमझ बन गये हो। ड्रामा का एक्टर होते हुए भी बाप को नहीं जानते! जो बाप ही करनकरावनहार है, क्या करते क्या कराते – यह भूल गये हो। सारी पुरानी दुनिया को हेविन बनाने आते हैं और ज्ञान देते हैं। वह ज्ञान का सागर है तो जरूर ज्ञान देने का कर्तव्य करेंगे ना। फिर तुमसे कराते भी हैं कि औरों को भी मैसेज दो कि बाप सबके लिए कहते हैं कि अब देह का भान छोड़ मुझे याद करो तो विकर्म विनाश होंगे। मैं श्रीमत देता हूँ। पाप आत्मायें तो सब हैं। इस समय सारा झाड़ तमोप्रधान, जड़जड़ीभूत अवस्था को पाया हुआ है। जैसे बांस के जंगल को आग लग जाती है तो एकदम सारा ही जलकर खत्म हो जाता। जंगल में पानी कहाँ से आयेगा जो आग को बुझावें। यह जो भी पुरानी दुनिया है उनको आग लग जायेगी। बाप कहते हैं – नथिंग न्यु। बाप अच्छी-अच्छी प्वाइंट्स देते रहते हैं जो नोट करनी चाहिए। बाप ने समझाया है और धर्म स्थापक सिर्फ अपना धर्म स्थापन करने आते हैं, उनको पैगम्बर वा मैसेन्जर आदि कुछ भी नहीं कह सकते। यह भी बड़ा युक्ति से लिखना है। शिवबाबा बच्चों को समझा रहे हैं – बच्चे तो सब हैं ऑल ब्रदर्स। तो हर एक चित्र में, हर एक लिखत में यह जरूर लिखना है – शिवबाबा ऐसे समझाते हैं। बाप कहते हैं – बच्चे, मैं आकर सतयुगी आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना करता हूँ, जिसमें 100 प्रतिशत सुख-शान्ति-पवित्रता सब है इसलिए उनको हेविन कहा जाता है। वहाँ दु:ख का नाम नहीं है। बाकी जो भी सब धर्म हैं उन सबका विनाश कराने निमित्त बनता हूँ। सतयुग में होता ही एक धर्म है। वह है नई दुनिया। पुरानी दुनिया को खत्म कराता हूँ। ऐसा धन्धा तो और कोई नहीं करते हैं। कहा जाता है शंकर द्वारा विनाश। विष्णु भी लक्ष्मी-नारायण ही हैं। प्रजापिता ब्रह्मा भी तो यहाँ है। यही पतित से पावन फरिश्ता बनते हैं इसलिए फिर ब्रह्मा देवता कहा जाता है। जिससे देवी-देवता धर्म स्थापन होता है। यह बाबा भी देवी-देवता धर्म का पहला प्रिन्स बनता है। तो ब्रह्मा द्वारा स्थापना, शंकर द्वारा विनाश। चित्र तो देने पड़े ना। समझाने के लिए यह चित्र बनाये हैं। इनके अर्थ का कोई को भी पता नहीं है। स्वदर्शन चक्रधारी का भी समझाया – परमपिता परमात्मा सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं। उनमें सारा ज्ञान है तो स्वदर्शन चक्रधारी ठहरे ना। जानते हैं हम ही यह ज्ञान सुनाते हैं। बाबा तो ऐसे नहीं कहेंगे कि मुझे कमल फूल समान बनना है। सतयुग में तुम कमल फूल समान ही रहते हो। सन्यासियों के लिए यह नहीं कहेंगे। वह तो जंगल में चले जाते हैं। बाप भी कहते हैं पहले वह पवित्र सतोप्रधान होते हैं। भारत को थमाते हैं, पवित्रता के बल से। भारत जैसा पवित्र देश कोई होता ही नहीं। जैसे बाप की महिमा है वैसे भारत की भी महिमा है। भारत हेविन था, यह लक्ष्मी-नारायण राज्य करते थे फिर कहाँ गये। यह अभी तुम जानते हो और किसकी बुद्धि में थोड़ेही होगा कि यह देवतायें ही 84 जन्म ले फिर पुजारी बनते हैं। अभी तुमको सारा ज्ञान है, हम अभी पूज्य देवी-देवता बनते हैं फिर पुजारी मनुष्य बनेंगे। मनुष्य तो मनुष्य ही होता है। यह जो चित्र किस्म-किस्म के बनाते हैं, ऐसे कोई मनुष्य होते नहीं। यह सब भक्ति मार्ग के ढेर चित्र हैं। तुम्हारा ज्ञान तो है गुप्त। यह ज्ञान सब नहीं लेंगे। जो इस देवी-देवता धर्म के पत्ते होंगे वही लेंगे। बाकी जो औरों को मानने वाले हैं वह सुनेंगे नहीं। जो शिव और देवताओं की भक्ति करते हैं वही आयेंगे। पहले-पहले मेरी भी पूजा करते हैं फिर पुजारी बन अपनी भी पूजा करते हैं। तो अब खुशी होती है कि हम पूज्य से पुजारी बने, अब फिर पूज्य बनते हैं। कितनी खुशियाँ मनाते हैं। यहाँ तो अल्पकाल के लिए खुशी मनाते हैं। वहाँ तो तुमको सदैव खुशी रहती है। दीपमाला आदि लक्ष्मी को बुलाने के लिए नहीं होती है। दीपमाला होती है कारोनेशन पर। बाकी इस समय जो उत्सव मनाये जाते हैं वह वहाँ होते नहीं। वहाँ तो सुख ही सुख है। यह एक ही समय है जबकि तुम आदि-मध्य-अन्त को जानते हो। यह सब प्वाइंट्स लिखो। सन्यासियों का है हठयोग। यह है राजयोग। बाबा कहते हैं एक-एक पेज़ में जहाँ-तहाँ शिवबाबा का नाम जरूर हो। शिवबाबा हम बच्चों को समझाते हैं। निराकार आत्मायें अब साकार में बैठी हैं। तो बाप भी साकार में समझायेंगे ना। वह कहते हैं अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो। शिव भगवानुवाच बच्चों प्रति। खुद यहाँ प्रेजन्ट है ना। मुख्य-मुख्य प्वाइंट किताब में ऐसी क्लीयर लिखी हुई हो जो पढ़ने से आपेही ज्ञान आ जाए। शिव भगवानुवाच होने से पढ़ने में मज़ा आ जायेगा। यह बुद्धि का काम है ना। बाबा भी शरीर का लोन लेकर फिर सुनाते हैं ना, इनकी आत्मा भी सुनती है। बच्चों को नशा बहुत रहना चाहिए। बाप पर बहुत लव होना चाहिए। यह तो उनका रथ है, यह बहुत जन्मों के अन्त का जन्म है। इनमें प्रवेश किया है। ब्रह्मा द्वारा यह ब्राह्मण बनते हैं फिर मनुष्य से देवता बनते हैं। चित्र कितना क्लीयर है। भल अपना भी चित्र दो ऊपर में वा बाजू में डबल सिरताज वाला। योगबल से हम ऐसे बनते हैं। ऊपर में शिवबाबा। उनको याद करते-करते मनुष्य से देवता बन जाते हैं। बिल्कुल क्लीयर है। रंगीन चित्र का किताब ऐसा हो जो मनुष्य देखकर खुश हो जाएं। उनसे फिर कुछ हल्के भी छपा सकते हो गरीबों के लिए। बड़े से छोटा, छोटे से छोटा कर सकते हो, रहस्य उसमें आ जाए। गीता के भगवान वाला चित्र है मुख्य। उस गीता पर कृष्ण का चित्र, उस गीता पर त्रिमूर्ति का चित्र होने से मनुष्यों को समझाने में सहज होता है। प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे ब्राह्मण यहाँ हैं। प्रजापिता ब्रह्मा सूक्ष्मवतन में तो हो नहीं सकता। कहते हैं ब्रह्मा देवताए नम:, विष्णु देवताए नम: अब देवता कौन ठहरे! देवतायें तो यहाँ राज्य करते थे। डिटीज्म तो है ना। तो यह सब अच्छी रीति समझाना पड़ता है। ब्रह्मा सो विष्णु, विष्णु सो ब्रह्मा दोनों यहाँ हैं। चित्र है तो समझाया जा सकता है। पहले-पहले अल्फ को सिद्ध करो तो सब बातें सिद्ध हो जायेंगी। प्वाइंट्स तो बहुत हैं और सब धर्म स्थापन करने आते हैं। बाप तो स्थापना और विनाश दोनों कराते हैं। होता है सब ड्रामा अनुसार ही। ब्रह्मा बोल सकते, विष्णु बोल सकते हैं? सूक्ष्मवतन में क्या बोलेंगे। यह सब समझने की बातें हैं। यहाँ तुम समझकर फिर ट्रांसफर होते हो, ऊपर क्लास में। कमरा ही दूसरा मिलता है। मूलवतन में कोई बैठ तो नहीं जाना है। फिर वहाँ से नम्बरवार आना होता है। पहले-पहले मूल बात एक ही है उस पर ज़ोर देना चाहिए। कल्प पहले भी ऐसे हुआ था। यह सेमीनार आदि भी ऐसे ही कल्प पहले हुए थे। ऐसी प्वाइंट्स निकली थी। आज का दिन जो पास हुआ अच्छा हुआ फिर कल्प बाद ऐसे ही होगा। ऐसे-ऐसे अपनी धारणा करते पक्के होते जाओ। बाबा ने कहा था मैगज़ीन में भी डालो – यह लड़ाई लगी, नथिंग न्यु। 5 हज़ार वर्ष पहले भी ऐसे हुआ था। यह बातें तुम ही समझते हो। बाहर वाले समझ न सके। सिर्फ कहेंगे बातें तो वन्डरफुल हैं। अच्छा, कभी जाकर समझ लेंगे। शिव भगवानुवाच बच्चों प्रति। ऐसे-ऐसे अक्षर होंगे तो आकर समझेंगे भी। नाम लिखा हुआ है प्रजापिता ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ। प्रजापिता ब्रह्मा से ही ब्राह्मण रचते हैं। ब्राह्मण देवी-देवता नम: कहते हैं ना। कौन से ब्राह्मण? तुम ब्राह्मणों को भी समझा सकते हो ब्रह्मा की औलाद कौन हैं? प्रजापिता ब्रह्मा के इतने बच्चे हैं, तो जरूर यहाँ एडाप्ट होते होंगे। जो अपने कुल के होंगे वह अच्छी रीति समझेंगे। तुम तो बाप के बच्चे हो गये। बाप ब्रह्मा को भी एडाप्ट करते हैं। नहीं तो शरीर वाली चीज़ आई कहाँ से। ब्राह्मण इन बातों को समझेंगे, सन्यासी नहीं समझेंगे। अजमेर में ब्राह्मण होते हैं और हरिद्वार में सन्यासी ही सन्यासी हैं। पण्डे ब्राह्मण होते हैं। परन्तु वह तो भूखे होते हैं। बोलो तुम अभी जिस्मानी पण्डे हो। अब रूहानी पण्डे बनो। तुम्हारा भी नाम पण्डा है। पाण्डव सेना को भी समझते नहीं हैं। बाबा है पाण्डवों का सिरमौर। कहते हैं हे बच्चे मामेकम् याद करो तो विकर्म विनाश होंगे और चले जायेंगे अपने घर। फिर बड़ी यात्रा होगी अमरपुरी की। मूलवतन की कितनी बड़ी यात्रा होगी। सबकी सब आत्मायें जायेंगी। जैसे मक्कड़ों का झुण्ड जाता है ना। मक्खियों की भी रानी भागती है तो उनके पिछाड़ी सब भागते हैं। वन्डर है ना। सब आत्मायें भी मच्छरों मिसल जायेंगी। शिव की बरात है ना। तुम सब हो ब्राइड्स। मैं ब्राइडग्रूम आया हूँ सबको ले जाने। तुम छी-छी हो गये हो इसलिए श्रृंगार कर साथ ले जाऊंगा। जो श्रृंगार नहीं करेंगे तो सज़ा खायेंगे। जाना तो है ही। काशी कलवट में भी मनुष्य मरते हैं तो सेकण्ड में कितनी सज़ायें भोग लेते हैं। मनुष्य चिल्लाते रहते हैं। यह भी ऐसे है, समझते हैं हम जैसेकि जन्म-जन्मान्तर का दु:ख सज़ा भोग रहा हूँ। वह दु:ख की फीलिंग ऐसी होती है। जन्म-जन्मान्तर के पापों की सज़ा मिलती है। जितनी सज़ायें खायेंगे उतना पद कम हो जायेगा इसलिए बाबा कहते हैं योगबल से हिसाब-किताब चुक्तू करो। याद से जमा करते जाओ। नॉलेज तो बहुत सहज है। अब हर कर्म ज्ञानयुक्त करना है। दान भी पात्र को देना है। पाप आत्माओं को देने से फिर देने वाले पर भी उसका असर पड़ जाता है। वह भी पाप आत्मायें बन जाते हैं। ऐसे को कभी नहीं देना चाहिए, जो उस पैसे से जाकर फिर कोई पाप आदि करें। पाप आत्माओं को देने वाले तो दुनिया में बहुत बैठे हैं। अब तुमको तो ऐसा नहीं करना है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अभी हर कर्म ज्ञानयुक्त करना है, पात्र को ही दान देना है। पाप आत्माओं से अब कोई पैसे आदि की लेन-देन नहीं करनी है। योगबल से सब पुराने हिसाब-किताब चुक्तू करने हैं।

2) अपार खुशी में रहने के लिए अपने आपसे बातें करनी है – बाबा, आप आये हैं हमें अपार खुशी का खज़ाना देने, आप हमारी झोली भर रहे हैं, आपके साथ पहले हम शान्तिधाम जायेंगे फिर अपनी राजधानी में आयेंगे…….।

वरदान:- कल्प-कल्प के विजय की स्मृति के आधार पर माया दुश्मन का आह्वान करने वाले महावीर विजयी भव
महावीर विजयी बच्चे पेपर को देखकर घबराते नहीं क्योंकि त्रिकालदर्शी होने के कारण जानते हैं कि हम कल्प-कल्प के विजयी हैं। महावीर कभी ऐसे नहीं कह सकते कि बाबा हमारे पास माया को न भेजो – कृपा करो, आशीर्वाद करो, शक्ति दो, क्या करूं कोई रास्ता दो….यह भी कमजोरी है। महावीर तो दुश्मन का आह्वान करते हैं कि आओ और हम विजयी बनें।
स्लोगन:- समय की सूचना है – समान बनो सम्पन्न बनो।

TODAY MURLI 14 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 14 August 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 13 August 2019:- Click Here

14/08/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the more you remember the Father, the more light there will be in you souls. Knowledgeable souls will begin to sparkle.
Question: Which children can Maya not harass even slightly?
Answer: Those who are firm yogis, those who make all their physical organs cool with the power of yoga. Those who make effort to stay in yoga can never be even slightly harassed by Maya. When you become firm yogis, you will become worthy. In order to become worthy, you firstneedpurity.

Om shanti. The Father sits here and explains to you sweetest children. Because of ignorance, you souls have become dull. Diamonds have a sparkle in them, whereas stones do not. This is why it is said: You have become as dull as stone. Then, when you awaken, it is said that you are like a gem stone. The light of souls has become dim through ignorance. They haven’t become completely dull; they are just called dull. Souls are all the same, but the bodies are all different. There are various types of bodies, whereas all souls are the same. You now understand that you are souls, children of the Father. You had all of this knowledge, but it gradually disappeared. It disappeared until, eventually, nothing remained and so that is called ignorance. You too were ignorant. You are now becoming knowledgeable through the Ocean of Knowledge. A soul is very subtle; it cannot be seen with these eyes. When the Father comes and explains to you children and makes you knowledgefull, you become alert. There will be light in every home. Now there is darkness in every home, that is, souls have become dim. The Father now says: Remember Me and light will come. Then you will become knowledgeable. The Father is not defaming anyone. He is just explaining the secrets of the drama. He has said to the children: All have become those with foolish intellects. Who is saying this? The Father. Children, your intellects had become so beautiful by following shrimat. You now feel that, do you not? You have now received knowledge. Knowledge is called a study. Our lights have become ignited with the Father’s study. This is called the true Deepawali. In our childhood, people would pour oil into small earthenware lamps and ignite them. That system continues. However, Deepawali doesn’t come through that. It is souls inside that have become dim. The Father comes and awakens lights. He comes and gives you children knowledge and teaches you. At a school, a teacher teaches them. That is limited knowledge, whereas this is unlimited knowledge. Do any of the sages or holy men teach you? Had you ever heard the knowledge of the Creator or the beginning, middle and end of creation? Did anyone ever come and teach it to you? Go and see if anyone is teaching this knowledge anywhere else. Only the one Father teaches you this, and so you should study with Him. The Father comes unexpectedly. He does not beat drums to announce that He is going to come. He comes and enters unexpectedly. He cannot make a sound until He receives organs. A soul too cannot make any sound without organs. It is only when he enters a body that he makes sounds. When you explain this to people, no one believes you. When this knowledge is given to you children, you understand it. No one except the one Father can give you this knowledge. No one wants to have a vision of destruction. The Father Himself comes and gives it. According to the drama, the old world is now to be destroyed. The new world is being established. Those who want to take knowledge from the Father will continue to come. Knowledge would have been given to so many! So many countless people come from so many villages. This mela of souls with the Supreme Soul only takes place once. He only comes at the confluence age. The Father comes and establishes the new world. Those whose lights have been ignited then go and ignite the lights of others. All of you now have to return home. You have to use your intellect for everything. On the path of devotion, there is darkness. Only the one Father who can give knowledge is needed. He only comes at the confluence age. Knowledge cannot be received in the old world. People think that 40,000 years remain; they are in total darkness. They believe that God will come after 40,000 years. He will definitely come, give knowledge and grant salvation. Therefore, that means that there is ignorance. It is called the darkness of ignorance. Those who have ignorance need to have knowledge. Devotion cannot be called knowledge. Souls have no knowledge and, because of having dull intellects, they think that devotion is knowledge. They say, “When the Sun of Knowledge comes, there will be light”, but they don’t understand anything. They sing: When the Sun of Knowledge rises…. Whom do they call the Sun of Knowledge? No one knows when He came. A pundit etc. would say that there will be light when the iron age ends. The Father comes and explains all of these things. You children understand, it numberwise. A teacher teaches children, but they do not all study to the same extent. There can never be the same marks for everyone in a study. You know that the unlimited Father has come. Destruction of the old world is just ahead. Only at this time do you have to take this knowledge and study yoga with the Father. Only by having remembrance will your sins be absolved. The Father says: I come and take this body on loan, that is, I take the support of matter only at the confluence age. These words are also mentioned in the Gita. Baba does not mention the name of other scriptures. There is just the one Gita. This is the study of Raj Yoga. They have given that the name “Gita”. At the beginning, it is written: “God speaks”, but who is called God? God is incorporeal and He doesn’t have a body of His own. That is the incorporeal world where souls reside. The subtle region cannot be called a world. This is the physical, corporeal world whereas that is the world of souls. The whole play is performed here. Souls in the incorporeal world are so tiny. Then they come here to play their parts. These thoughts are instilled in the intellects of only you children. This is called knowledge. The Vedas and scriptures are devotion, not knowledge. You haven’t met as many sannyasis as Baba has. Baba was in their company a lot; he adopted many gurus. They were asked: Why did you take up renunciation and renounce your homes and families? They would say: The intellect becomes corrupt through vice and that is why we left our home and families. Achcha, you go and live in the jungles. So, do you then remember your homes and families? They replied: Yes. Baba saw that one sannyasi even went back home. This is also mentioned in the scriptures. People go into the stage of retirement when they become old. One cannot take retirement at a young age. Many naked young men go to the kumbha mela. They take drugs to control their physical organs. You have the power of yoga with which to control the physical organs. By being controlled with the power of yoga, they will eventually cool down. Some children say: Baba, Maya harasses me a great deal. Such things do not exist there. The physical organs will be controlled when you become firm in yoga. The physical organs will become cool. This requires a lot of effort. There isn’t anything dirty there like this. The Father has come to take you to such a land of heaven. He is making you worthy whereas Maya makes you unworthy, that is, unworthy to go to heaven, the land of liberation-in-life. The Father sits here and makes you worthy. For that, purity is first. You even sing: Baba, we have become impure! Come and make us pure! Pure means pure. It is remembered: Why should we renounce nectar and drink poison? That which causes sorrow from its beginning through the middle to the end is called poison. That is also fixed in the drama. The Father has come and met you children so many times. From being the lowest, you are made into the most elevated beings. When a soul becomes pure, his lifespan becomes long. He receives everything – health, wealth and happiness. You can write this on a boardHealth, wealth and happiness for 21 generations in a second. You receive this inheritance from the Father for 21 births. Some children are even afraid to put up a board. There is a board put up outside everyone’s home. You are the children of the Surgeon, are you not? You receive everything – health, wealth and happiness, and so you then have to give that to others. If you can give that, why don’t you write it on a board? People would then come and understand that, 5000 years before today, there was health and wealth and also purity in Bharat. You receive your inheritance from the unlimited Father in a second. Many people will come to you. You can sit and explain: This Bharat was “The Golden Sparrow”. It used to be their kingdom. Where did they then go? They are the ones who will take the 84 births first. He is number one and he then becomes the last one. The Father says: Your cycle of 84 births has now ended and has to begin again. Only the unlimited Father comes and enables you to attain this status. He simply says: Remember Me and you will become pure. You have to know the cycle of 84 births and claim your inheritance from the Father, but you also have to study. You are called spinners of the discus of self-realisation. New people who come here will not be able to understand. You know that a soul is called oneself. I, the soul that was pure, have been around the cycle of 84 from the beginning. The Father also tells you that you first worshipped Shiva; you were unadulterated devotees. No one except the Father can explain this to you. The Father says: Sweetest children, you are the first ones to take this birth. When a person is wealthy, they say that he must have performed such actions in his past birth. If someone is diseased, it is said that that must be the account of his past actions. OK, what type of actions did Lakshmi and Narayan perform? The Father sits here and explains that. They have completed their 84 births and they have to go into the first number birth. God only comes at the confluence age to teach you Raj Yoga. You now understand that Baba is teaching you Raj Yoga. Nevertheless, you will forget. The Father has explained to you the deep philosophy of action, neutral action and sinful action. In the kingdom of Ravan, your actions are sinful. There (in the golden age) your actions are neutral. The kingdom of Ravan doesn’t exist there. There are no vices there. There, there is the power of yoga because we become the masters of the world with the power of yoga. So, surely, a pure world is also needed. The old world is impure and the new world is pure. That is the viceless world and this is the vicious world. Only the Father comes and makes the brothel into the Shiva Temple. The golden age is the Shiva Temple. Shiv Baba comes and makes you worthy of the golden age. You can go to the Lakshmi and Narayan Temple and ask them: Do you know how they attained their status and how they became the masters of the world? The Father says: You do not know that; I know that. Only you children of the Father can tell them how Lakshmi and Narayan attained their status. They are the ones who took the full 84 births. Then the Father came at the most auspicious confluence age and taught you Raj Yoga and gave you the kingdom. Prior to that, you were number one impure and then you became number one pure. There is the whole kingdom. Everything is clear in your pictures as to who taught them Raj Yoga. The Highest on High is the Supreme Father, the Supreme Soul. Deities cannot teach this. God alone is called knowledge-full and teaches this. He is also called the Father, Teacher and Satguru. Only those who have worshipped Shiva from the beginning can understand these things. You can ask those who built the temples: You have built this temple, but how did they receive their status? When was it their kingdom? Where did they then go? Where are they now? When you tell them the story of 84 births, they will become very happy. Let there be a picture in your pocket. You can explain to anyone. Those who have worshipped Shiva from the beginning will continue to listen to this and become happy. You will then understand that they belong to your clan. Day by day, Baba teaches you very easy methods. You have now received the understanding that only the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Bestower of Salvation of all. You receive sovereignty of the golden age for 21 births. Only by studying this do you receive the inheritance for 21 births. There are many topics. You can tell them about the biography of the Supreme Father, the Supreme Soul, with the topic: What is the brothel and what is the Shiva Temple? The story of the 84 births of Lakshmi and Narayan is also a topic. How there was peace in the world and how it then became peaceless and how peace is now being established once again is also a topic. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become an elevated being, make yourself, the soul, pure with the power of remembrance. Do not perform any sinful acts with your physical organs.
  2. Become knowledgeable and do the service of awakening souls. Pour the oil of knowledge and yoga into the lamp of the soul. Cleanse your intellect by following shrimat.
Blessing: May you be a masteralmighty authority and create your stage of “Manmanabhav” with the awareness of being a master.
Always keep this awareness emerged: I, the soul, am a karavanhar, a master, a special soul, a masteralmighty authority. By having the awareness of being a master, your mind, intellect and sanskars will be controlled. “I am separate and a master”. With this awareness, you will easily create the stage of “Manmanabhav”. This practice of being detached will make you karmateet.
Slogan: To tolerate defamation and disturbanceand to accommodate them means to fix your kingdom.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 14 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 August 2019

To Read Murli 13 August 2019:- Click Here
14-08-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम जितना बाप को याद करेंगे उतना आत्मा में लाइट आयेगी, ज्ञानवान आत्मा चमकीली बन जाती है”
प्रश्नः- माया किन बच्चों को ज़रा भी तंग नहीं कर सकती?
उत्तर:- जो पक्के योगी हैं, जिन्होंने योगबल से अपनी सर्व कर्मेन्द्रियों को शीतल बनाया है, जो योग में ही रहने की मेहनत करते हैं, उन्हें माया ज़रा भी तंग नहीं कर सकती। जब तुम पक्के योगी बन जायेंगे तब लायक बनेंगे। लायक बनने के लिए प्योरिटी फर्स्ट है।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चों को बाप बैठ समझाते हैं। अज्ञान के कारण तुम्हारी आत्मा डल हो गई है। हीरे में चमक होती है ना, पत्थर में चमक नहीं होती इसलिए कहा जाता है पत्थर मिसल डल हो गई है। फिर जागती है तो कहा जाता है यह जैसे पारसमणी है। अब अज्ञान के कारण आत्मा की ज्योति डिम हो गई है, काली नहीं होती है। नाम यह रखा हुआ है। आत्मा सबकी एक जैसी होती है, शरीरों की बनावट अनेक प्रकार की होती है। आत्मा तो एक ही है। अब तुम समझते हो हम आत्मा हैं, बाप के बच्चे हैं। यह सारा ज्ञान था वह फिर धीरे-धीरे निकल गया है। निकलता-निकलता आखरीन कुछ नहीं रहता तो कहेंगे अज्ञान। तुम भी अज्ञानी थे। अब ज्ञान के सागर से ज्ञानी बनते जाते हो, आत्मा तो बहुत सूक्ष्म है। इन आंखों से देखने में नहीं आती। बाप आकर समझाते हैं, बच्चों को नॉलेजफुल बनाते हैं, तब सुज़ाग होते हो। घर-घर में सोझरा हो जाता है। अभी घर-घर में अन्धियारा है अर्थात् आत्मा डिम हो गई है। अब बाप कहते हैं मुझे याद करो तो लाइट आ जायेगी फिर तुम ज्ञानवान बन जायेंगे। बाप किसकी ग्लानि नहीं करते हैं। यह तो ड्रामा का राज़ समझाते हैं। बच्चों को कहा है ना यह तो सब मूढ़मति हो गये हैं। कौन कहते हैं? बाप। बच्चे, तुम्हारी कितनी सुन्दर बुद्धि बनी थी श्रीमत पर। अभी तुम फील करते हो ना। तुम्हें ज्ञान मिला है। ज्ञान को पढ़ाई कहा जाता है। बाप की पढ़ाई से हमारी ज्योति जग गई है, इनको ही सच्ची-सच्ची दीपावली कहा जाता है। छोटेपन में मिट्टी के दीपक में तेल डाल ज्योति जगाते थे। वह तो रस्म चलती रहती है। उनसे कोई दीपावली नहीं होती। यह तो आत्मा जो अन्दर है, वह डिम हो गई है। उनकी ज्योति आकर बाप जगाते हैं। बच्चों को आकर नॉलेज देते हैं, पढ़ाते हैं। स्कूल में टीचर पढ़ाते हैं ना। वह है हद की नॉलेज, यह है बेहद की नॉलेज। कोई साधू-सन्त भी पढ़ाते हैं क्या! रचयिता और रचना के आदि, मध्य और अन्त की नॉलेज कब सुनी? कभी कोई ने आकर पढ़ाई? जाकर देखो कहाँ यह नॉलेज पढ़ाते हैं? सिर्फ एक बाप ही पढ़ाते हैं तो उनके पास पढ़ना चाहिए। बाप अनायास ही आ जाते हैं। ढिंढोरा थोड़ेही पीटते हैं कि मैं आ रहा हूँ। अनायास ही आकर प्रवेश करते हैं। वह आवाज़ तो कर ही नहीं सकते जब तक उनको आरगन्स न मिलें। आत्मा भी आरगन्स बिगर आवाज़ नहीं कर सकती, शरीर में जब आयी है, तब आवाज़ करती है। तुम समझाओ तो कोई मानेंगे नहीं। बच्चों को जब यह नॉलेज दी जाती है तब समझते हैं। यह नॉलेज एक बाप के सिवाए कोई दे न सके। विनाश का साक्षात्कार भी कोई चाहते थोड़ेही हैं। यह बाप ही आकर कराते हैं। ड्रामानुसार पुरानी दुनिया अब खत्म होनी है। नई दुनिया स्थापन हो रही है। जिनको बाप से नॉलेज लेनी है वह आते रहते हैं। कितनों को ज्ञान दिया होगा? अनगिनत, गांव-गांव से कितने ढेर आते हैं। यह आत्माओं और परमात्मा का मेला एक ही बार लगता है। संगमयुग पर ही आते हैं। बाप आकर नई दुनिया स्थापन करते हैं, जिनकी ज्योति जगाते हैं वह फिर जाकर औरों की ज्योति जगाते हैं। अभी तुम सबको वापिस जाना है। इसमें बुद्धि से काम लेना होता है। भक्ति मार्ग में तो है अन्धियारा। ज्ञान देने वाला तो एक बाप चाहिए। वह आते ही हैं संगम पर। पुरानी दुनिया में ज्ञान मिल न सके। मनुष्यों के ख्याल में है अभी तो 40 हज़ार वर्ष पड़े हैं, बिल्कुल ही घोर अन्धियारे में हैं। समझते हैं 40 हज़ार वर्ष बाद भगवान् आयेगा। जरूर आकर ज्ञान दे सद्गति करेंगे तो गोया अज्ञान है ना। इनको अज्ञान अन्धियारा कहा जाता है। अज्ञान वालों को ज्ञान चाहिए। भक्ति को ज्ञान नहीं कहा जाता है। आत्मा में ज्ञान है नहीं परन्तु डल बुद्धि होने कारण समझते हैं भक्ति ही ज्ञान है। एक तरफ कहते हैं ज्ञान सूर्य के आने से सोझरा होगा, परन्तु समझते कुछ नहीं। गाते हैं ज्ञान सूर्य प्रगटा……. किसके लिए कहते हैं ज्ञान सूर्य? कब आया यह कोई नहीं जानते। पण्डित आदि होगा तो कहेगा जब कलियुग पूरा होगा तब सोझरा होगा। यह सब बातें बाप आकर समझाते हैं। बच्चे नम्बरवार समझते हैं। टीचर बच्चों को पढ़ाते हैं, एकरस तो बच्चे नहीं पढ़ेंगे। पढ़ाई में एकरस मार्क्स कभी होती नहीं।

तुम जानते हो कि बेहद का बाप आया हुआ है। अब पुरानी दुनिया का विनाश भी सामने खड़ा है। अभी ही बाप से ज्ञान लेना है और योग भी सीखना है। याद से ही विकर्म विनाश होंगे। बाप कहते हैं इस संगम पर ही आकर इस शरीर का लोन लेता हूँ अर्थात् प्रकृति का आधार लेता हूँ। गीता में भी यह अक्षर है, और कोई शास्त्र का नाम बाबा नहीं लेते हैं। एक ही गीता है। यह है ही राजयोग की पढ़ाई। नाम रख दिया है गीता। इसमें पहले-पहले लिखा है भगवानुवाच। अब भगवान् किसको कहा जाता है? भगवान् तो है निराकार, उनको अपना शरीर तो है नहीं। वह है निराकारी दुनिया, जहाँ आत्मायें रहती हैं। सूक्ष्मवतन को दुनिया नहीं कहा जाता। यह है स्थूल साकार दुनिया, वह है आत्माओं की दुनिया। खेल सारा यहाँ चलता है। निराकारी दुनिया में आत्मायें कितनी छोटी-छोटी हैं। फिर पार्ट बजाने आती हैं। यह ख्यालात तुम बच्चों की ही बुद्धि में बिठाये जाते हैं। इसको ही ज्ञान कहा जाता है। वेद-शास्त्र को कहा जाता है भक्ति, ज्ञान नहीं। तुम्हारी साधू-सन्यासियों से इतनी भेंट नहीं हुई है, बाबा का तो बहुत संग रहा है। बहुत गुरू किये हैं। पूछा जाता है आपने सन्यास क्यों किया? घरबार क्यों छोड़ा? कहते थे विकार से बुद्धि भ्रष्ट हो जाती है इसलिए घरबार छोड़ा। अच्छा, जंगल में जाकर रहते हो फिर घरबार की याद आती होगी? बोला हाँ। बाबा का तो देखा हुआ है एक सन्यासी तो फिर वापिस घर भी गया था। यह भी शास्त्रों में है। मनुष्य वानप्रस्थ अवस्था में तब जाते हैं जब आयु बड़ी हो जाती है, छोटी आयु में तो वानप्रस्थ ले न सकें। कुम्भ के मेले में बहुत छोटे-छोटे नांगे लोग आते हैं। दवाई खिलाते हैं, जिससे कर्मेन्द्रियां ठण्डी पड़ जाती हैं। तुम्हारा तो है योगबल से कर्मेन्द्रियों को वश में करना। योगबल से वश होते होते आखरीन ठण्डी हो ही जायेंगी। कई कहते हैं बाबा माया बहुत तंग करती है। वहाँ तो ऐसी बातें होती नहीं। कर्मेन्द्रियां वश तब होंगी जब योग में तुम पक्के होंगे। कर्मेन्द्रियां शान्त हो जायेंगी। इसमें बड़ी मेहनत है। वहाँ ऐसे छी-छी काम होते नहीं। बाप आये हैं ऐसे स्वर्गधाम में ले जाने। तुमको लायक बना रहे हैं। माया तुमको न-लायक बनाती है अर्थात् स्वर्ग वा जीवनमुक्ति धाम में चलने लायक नहीं। तो बाप बैठ लायक बनाते हैं। उसके लिए प्योरिटी है फर्स्ट। गाते भी हैं – बाबा, हम पतित बन पड़े हैं, हमको आकर पावन बनाओ। पावन माना पवित्र, गायन भी है अमृत छोड़ विष काहे को खाये। उनका नाम विष भी है, जो आदि मध्य अन्त दु:ख देता है। यह भी ड्रामा में नूंध है। बाप कितना बार आये हैं, तुम बच्चों से आकर मिले हैं। तुम्हें कनिष्ट से उत्तम पुरूष बनाया जाता है। आत्मा पवित्र होती है तो आयु भी बड़ी हो जाती है। हेल्थ, वेल्थ और हैपीनेस सब मिल जाती है। यह भी तुम बोर्ड पर लिख सकते हो। हेल्थ, वेल्थ, हैप्पीनेस फार 21जनरेशन वन सेकण्ड। बाप से यह वर्सा मिलता है 21 जन्मों के लिए। कई बच्चे बोर्ड लगाने से भी डरते हैं। बोर्ड तो सबके घर पर रहता ही है। तुम सर्जन के बच्चे हो ना। तुमको हेल्थ, वेल्थ, हैप्पीनेस सब मिलती है। तो तुम फिर औरों को दो। दे सकते हो तो क्यों नहीं बोर्ड पर लिख देते हो! तो मनुष्य आकर समझें कि भारत में आज से 5 हज़ार वर्ष पहले हेल्थ-वेल्थ थी, पवित्रता भी थी। बेहद के बाप का वर्सा एक सेकण्ड में। तुम्हारे पास बहुत आयेंगे। तुम बैठ समझाओ यही भारत सोने की चिड़िया थी, इन्हों का राज्य था। फिर यह कहाँ गये? 84 जन्म पहले यह लेंगे। यह नम्बरवन है ना, यही फिर लास्ट में आते हैं। बाप कहते हैं अब तुम्हारा 84 का चक्र पूरा हुआ। फिर शुरू होना है। बेहद का बाप ही आकर यह पद प्राप्त कराते हैं। सिर्फ कहते हैं, तुम मुझे याद करो तो पावन बन जायेंगे। 84 जन्मों को जानकर बाप से वर्सा लेना है। परन्तु पढ़ाई तो चाहिए ना।

तुमको कहा जाता है स्वदर्शन चक्रधारी। नया तो कोई समझ न सके। तुम जानते हो स्व आत्मा को कहा जाता है। हम आत्मा जो पवित्र थी, शुरू से लेकर 84 का चक्र लगाया। वह भी बाप बताते हैं, तुमने पहले-पहले शिव की भक्ति शुरू की। तुम तो अव्यभिचारी भक्त थे। बाप के सिवाए कोई समझा न सके। बाप कहते हैं मीठे-मीठे बच्चों तुमने पहले-पहले यह जन्म लिया। कोई साहूकार होगा तो कहेंगे ना कि आगे जन्म में इसने ऐसा कर्म किया है। कोई रोगी होगा तो कहेंगे पिछले कर्म का हिसाब-किताब है। अच्छा, इन लक्ष्मी-नारायण ने कौन से कर्म किये? यह बाप बैठ समझाते हैं। इनके 84 जन्म पूरे हुए फिर फर्स्ट नम्बर में आना है। भगवान् संगमयुग पर ही आकर राजयोग सिखलाते हैं। अभी तुम समझ रहे हो कि बाबा हमें राजयोग सिखला रहे हैं। फिर भी तुम भूल जायेंगे। कर्म, अकर्म और विकर्म की गुह्य गति भी बाप ने समझाई है, रावण राज्य में तुम्हारे कर्म विकर्म हो जाते हैं। वहाँ कर्म अकर्म होते हैं। वहाँ रावण राज्य ही नहीं। विकार होता नहीं। वहाँ है ही योगबल जबकि योगबल से हम विश्व के मालिक बनते हैं तो जरूर पवित्र दुनिया भी चाहिए। पुरानी दुनिया को अपवित्र, नई दनिया को पवित्र दुनिया कहा जाता है। वह है वाइसलेस वर्ल्ड, यह है विशश वर्ल्ड। बाप ही आकर वेश्यालय को शिवालय बनाते हैं। सतयुग है शिवालय। शिवबाबा आकर तुमको सतयुग के लिए लायक बना रहे हैं। लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में जाकर तुम पूछ सकते हो। आपको मालूम है इन्हों ने यह पद कैसे पाया? विश्व के मालिक कैसे बने? बाप कहते हैं तुम नहीं जानते हो, हम जानते हैं। तुम बाप के बच्चे ही कह सकते हो कि हम आपको बता सकते हैं – इन्हों ने यह पद कैसे पाया। इन्हों ने ही पूरे 84 जन्म लिये फिर पुरूषोत्तम संगमयुग पर आकर बाप ने राजयोग सिखलाया है और राजाई दी है। उसके पहले नम्बरवन पतित थे फिर नम्बरवन पावन बनें। सारी राजधानी है ना। तुम्हारे चित्रों में सब क्लीयर है – इन्हों को राजयोग किसने सिखलाया। ऊंच ते ऊंच है ही परमात्मा। देवतायें तो सिखला न सके, भगवान् ही सिखलाते हैं, जिसको नॉलेजफुल कहा जाता है। बाप टीचर सतगुरू भी कहा जाता है।

यह सब बातें वही समझ सकते हैं जिसने शुरू से शिव की भक्ति की होगी। मन्दिर बनाने वालों से तुम पूछो – आपने यह मन्दिर बनाया है, इन्होंने यह पद कैसे पाया? इन्हों का राज्य कब था? फिर यह कहाँ गये? अब यह कहाँ हैं? तुम 84 की कहानी बताओ तो बहुत खुश हो जायेंगे। चित्र पाँकेट में पड़ा हो। तुम किसको भी समझा सकते हो। शुरू से जिसने शिव की भक्ति की होगी, वह सुनते रहेंगे खुश होते रहेंगे। तुम समझ जायेंगे यह हमारे कुल का है। दिन-प्रतिदिन बाबा बहुत सहज युक्तियाँ बतलाते हैं। तुमको अब समझ मिली है परमपिता परमात्मा ही सर्व का सद्गति दाता है। 21 जन्मों के लिए सतयुगी बादशाही मिल जाती है। 21 जन्मों का वर्सा इस पढ़ाई से ही मिलता है। टॉपिक भी बहुत हैं, वेश्यालय और शिवालय किसको कहा जाता है – इस टॉपिक पर हम परमपिता परमात्मा की जीवन कहानी बता सकते हैं। लक्ष्मी-नारायण के 84 जन्मों की कहानी – यह भी टॉपिक है। विश्व में शान्ति कैसे थी, फिर अशान्ति कैसे हुई, अब फिर शान्ति कैसे स्थापन हो रही है – यह भी टॉपिक है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अब उत्तम पुरूष बनने के लिए याद के बल से आत्मा को पवित्र बनाना है कर्मेन्द्रियों से कोई भी विकर्म नहीं करना है।

2) ज्ञानवान बन आत्माओं को सुजाग करने की सेवा करनी है। आत्मा रूपी ज्योति में ज्ञान-योग का घृत डालना है। श्रीमत पर बुद्धि को स्वच्छ बनाना है।

वरदान:- मालिकपन की स्मृति द्वारा मन्मनाभव की स्थिति बनाने वाले मास्टर सर्वशक्तिमान भव
सदा यह स्मृति इमर्ज रूप में रहे कि मैं आत्मा “करावनहार” हूँ, मालिक हूँ, विशेष आत्मा, मास्टर सर्वशक्तिमान हूँ – तो इस मालिकपन की स्मृति से मन-बुद्धि और संस्कार अपने कन्ट्रोल में रहेंगे। मैं अलग हूँ और मालिक हूँ – इस स्मृति से मनमनाभव की स्थिति सहज बन जायेगी। यही न्यारेपन का अभ्यास कर्मातीत बना देगा।
स्लोगन:- ग्लानि वा डिस्ट्रबेन्श को सहन करना और समाना अर्थात् अपनी राजधानी निश्चित करना।

TODAY MURLI 14 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 14 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 13 August 2018 :- Click Here

14/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you should have the intoxication that the Father Himself has awakened your fortune and that you have now become instruments to awaken the sleeping fortune of Bharat.
Question: Who can constantly laugh and jump with joy?
Answer: 1. Those who keep themselves busy in doing service day and night. 2. Those who never sulk with the Mother and Father. If you sulk with each other or with the Mother and Father and stop studying, you won’t be able to laugh and jump with joy. Maya slaps such children. Those who make everyone laugh can never sulk with anyone.
Song: You are the fortune of tomorrow. 

Om shanti. The Father sits here and explains to you children. The Purifier is the Satguru. In comparison to the true Guru, the Satguru, there are definitely also those who are false. It is sung: Maya is false, the body is false and the whole world is false. This would not be said in the golden age. The very name of that place is the land of truth. Bharat was the land of truth. Why was it given the name, the land of truth? Because it is the birthplace of the unlimited Father. It isn’t in the intellect of anyone else that the Supreme Father, the Supreme Soul, is called the Truth and that Bharat is His birthplace. The Father comes here and explains this. In fact, this Bharat was heaven, whereas it is now hell. I come to make Bharat into heaven. You now understand that earlier it was truly the rule of foreigners. It was hell then, but it is now extreme hell. People have conflicting opinions and fight so much. There is so much friction because of the different languages too. They continue to tell lies. They say: We are all one. In fact, so many souls are all a brotherhood. There shouldn’t be any conflict of opinion. There shouldn’t be any conflict of opinion between different religions, but there is so much conflict. There is now conflict even over different languages. That is the destiny of the drama. Bharat has become extreme hell. There is so much enmity for one another. There wasn’t a war between the Kauravas and the Pandavas. You Pandavas are sitting here. You, the true decoration of the Brahmin clan, are the fortune of Bharat. Your names are good: Swadarshanchakradhari (spinner of the discus of self-realisation), trinetri (One with a third eye), Trikaldarshi (Knower of the three aspects of time). Trimurti Shiv Baba is making you trikaldarshi through Brahma Baba. He opens your third eye. The story of the third eye, the story of the true Narayan and the story of immortality are all one and the same. All of you people of Bharat are listening to the story of immortality. Just as the Father is explaining to you, so you children then have to explain to others. Some ask: Baba, how can I do service? Baba has explained that you decoration of the Brahmin clan, who change human beings to become like diamonds, should put up a board. Let there be Shiv Baba’s picture put up. At the bottom of Shiv Baba’s picture, write: Come in and understand how you can claim your birthright of the sovereignty of heaven from the unlimited Father. Then people will come and understand. The explanation is easy. The Father has come and is creating heaven. This is the land of Shiv Baba’s incarnation. Baba comes from the supreme abode into Bharat. Bharat is the biggest pilgrimage place of all. Everyone should accept this. This is the birthplace of the Purifier Father of everyone, such as Guru Nanak, Buddha etc. It is now the devilish kingdom. As the king and queen are ugly, so the people will also be ugly. Then they will become beautiful. This is called the iron age and that is the golden age. Shivalaya is the pure world. British people believe that there used to be a kingdom of gods and goddesses in Bharat, but they don’t know when that was. Bharat was very wealthy, but it is now poverty-stricken and this is why Bharat is given money. Donations are given to the poor and so they now donate to Bharat. They took a lot of wealth from Bharat and so they now continue to give to Bharat. The Father says: My part is to make Bharat like a diamond. You are Brahma Kumars and Kumaris and you are made into deities. It is remembered that the Supreme Father, the Supreme Soul, establishes the Brahmin and deity religions through Brahma. However, the people of Bharat don’t know this. It is fixed for them not to know. Therefore, put up the board: You have been claiming a limited inheritance from your physical fathers for birth after birth. Now come in and claim your inheritance of heaven from the Father from beyond. The children of Prajapita Brahma only exist at the confluence age. You are BKs and so you are definitely the grandsons and granddaughters of Shiv Baba. Explain to everyone that you are the children of Prajapita Brahma and that you have a right to the golden-aged, deity sovereignty. These are such easy matters. These Brahma Kumars and Kumaris are the grandsons and granddaughters of Shiv Baba. They became that in the previous cycle and are now once again becoming that in order to become deities. You should also have a picture of Shiv Baba with you. Those who help to make Bharat into heaven definitely receive a prize. Whatever service Brahmins do, they will accordingly receive a status. In order to claim your full inheritance from the Father, you definitely have to become pure. You children have the happiness inside that you are following shrimat and claiming your inheritance of the kingdom of heaven. Your intoxication should definitely rise. All of you will become the masters of heaven, but you have to make effort to attain your high status. Glorify the Father’s name. It is remembered: Those who defame the Guru cannot reach their destination. However, ask them: What destination? This Satguru now guarantees: I have come to take all of you back home. I will liberate you from sorrow and take you back home. Only Baba can say this. It is remembered that all went back like a swarm of mosquitoes. When destruction takes place, the haystack will be set on fire. It is also remembered that Lakha Bhavan of the Pandavas was set on fire. There was a building, Lakha Bhavan. This one’s name was Lekhraj. People really did bring petrol to set his place on fire. These are things that happened in a practical way. There wasn’t a fire, but they have just written such things. So you children should live with so much spiritual intoxication because you are the ones who are creating the fortune of Bharat. Those people crossed out their fortune. Now all the money etc. is coming from outside. Return service is taking place. Destruction is just ahead. Those people took a lot from you; they looted Bharat. Such an incognito secret is fixed in the drama. Those from abroad are now bestowers for Bharat. This is fixed according to the drama. The same thing also happened in the previous cycle. The Father explains: You and I meet every cycle. Every cycle you attain your self-sovereignty from the Father by following shrimat. You don’t have to do anything else. By following the highest religion of non-violence according to shrimat, you are becoming the masters of the world. Gurus are not called Shri Shri. Shiv Baba alone is called Shri Shri. God speaks: This is the same time period as it was 5000 years ago when I came to uplift everyone. You too are Shiv Baba’s grandsons and granddaughters, the children of Brahma, Brahma Kumars and Kumaris. You can explain this to those in high positions. You can also explain this very well to social workers. Growth takes place through service. You should maintain courage. You know that Maya is no less. She slaps you and turns your faces away so that your intellects become divorced from Rama. There is a toy where, one minute Sita belongs to Rama and the next minute, she belongs to Ravan. Baba has said: Also create a picture of the variety-form image. The clans should show how you went into the deity, warrior, merchant and shudra clans. From the shudra clan, you have now come into the Brahmin clan. This is how the cycle of 84 births of Bharat rotates. You can explain this to anyone. This is called easy Raja Yoga. You are Raja Yogis and Raj Rishis, whereas those people are hatha yoga rishis. You are now following shrimat and becoming pure. In the golden and silver ages, it is the completely viceless world. Maya doesn’t exist there. Children will be born there in whatever way they are meant to. Why do you ask: How will children take birth there? First of all, claim your inheritance. Whatever the customs and systems are there, they will continue. Why do you ask this? You have to become viceless. Then, whatever customs there are, they will continue. Shri Krishna took birth through a womb. He is called completely viceless. He sat very comfortably in the palace of a womb. Here, souls experience a lot of punishment in the jail of a womb and cry out in distress. So, you have to explain such things. Do service ! You have to give knowledge to all your friends, relative and neighbours etc. Continue to give the Father’s introduction. The unlimited Father establishes heaven. The Father says: Remember Me and your sins will be absolved. Make this promise: Baba, I will become Your helper and definitely claim my inheritance of purity. Everything depends on effort. Follow Mother and Father. What do you need to ask? Your aim and objective is Raja Yoga, yoga for the kingdom. This is not praja yoga to become subjects. If you become kings, your subjects are also surely needed. There has always been the kingdom of kings and queens in Bharat. Now there are no kings or queens. The Father is once again establishing the kingdom of kings and queens. This is called the family path. The Purifier Father sits here and explains to you. He definitely has to be called the Purifier. The Purifier Father is teaching us Raja Yoga. Therefore, He is the true Father and the true Teacher and the true Guru (Satguru). He is first the Purifier. The praise of the Guru is very great. Where there is conflict in a home, it is said: Due to sorrow and conflict even the urns of water dry up. Then, those who create obstacles are blamed. According to the drama , their intellects become locked; they won’t be able to say anything. If someone goes and defames others, he will choke. Those who defame the Satguru cannot reach their destination. That One is the true Father, the true Teacher and the true Guru (Satguru). The Father says: If you have Me defamed, you won’t be able to claim a high status. Rehearsals for destruction will also continue to take place so that people can wake up. You are awake, but those people are in a deep sleep. They have written defamatory things in the scriptures. They have made the name of the golden age disappear. You should laugh and jump with joy inside. Don’t sulk with the Mother and Father. Storms will come but you must never divorce the Father. Never turn your face away from the Mother and Father. Maya is very strong. You children should never sulk. Just continue to make everyone laugh. You have won a big lottery from the Father and so always remain cheerful. You mustn’t cause anyone sorrow. If you do cause sorrow, you will die in sorrow. Let only jewels, and not stones, emerge from your mouths. If stones emerge, your intellects will become stone. No one has as yet become complete. You should make effort to become complete. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become the Father’s helpers and claim a prize from Him. You have to glorify the name of the Satguru. You mustn’t have Him defamed.
  2. Don’t allow there to be conflict among you. Let only jewels and not stones always emerge from your mouths. You mustn’t sulk but make everyone laugh.
Blessing: May you be an embodiment of remembrance who discerns between the wasteful and the powerful by being seated on the seat of a powerful stage.
The essence of this knowledge is to become an embodiment of remembrance. Before performing any task, first of all sit on the seat of a powerful stage with this blessing and discern whether that task is wasteful or powerful and then act. After performing that deed, check whether all three stages of that act – beginning, middle and end – were powerful. The seat of a powerful stage is the seat of a swan and its speciality is the power to discern. With the power of discernment you will always have the stage of an elevated being who follows the highest code of conduct and you will continue to move forward.
Slogan: The way to chase away all types of mental illness is the power of silence.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 14 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 14 August 2018

To Read Murli 13 August 2018 :- Click Here
14-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें नशा होना चाहिए कि हमारी तकदीर स्वयं बाप ने जगाई है, अभी हम भारत की सोई हुई तकदीर जगाने के निमित्त बने हैं”
प्रश्नः- निरन्तर खुशी में खग्गियां कौन मारते हैं?
उत्तर:- 1- जो दिन-रात अपने को सेवा में बिज़ी रखते हैं। 2-जो कभी भी मात-पिता से रूठते नहीं। अगर किसी भी बात से आपस में या मात पिता से रूठ जाते, पढ़ाई छोड़ देते तो खुशी में खग्गियां नहीं मार सकते। माया उनको थप्पड़ मार देती है। जो सबको हंसाने वाले हैं वह कभी किसी से रूठ नहीं सकते।
गीत:- आने वाले कल की तुम तकदीर हो…….. 

ओम् शान्ति। बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। पतित-पावन है ही सतगुरू। सतगुरू की भेंट में झूठे भी जरूर हैं। जैसे गाया जाता है झूठी माया झूठी काया…….सतयुग में ऐसे नहीं कहेंगे। उसका नाम ही है सचखण्ड। भारत सचखण्ड था। सचखण्ड नाम क्यों पड़ा? क्योंकि बेहद के बाप की यह जन्मभूमि है। यह बात और कोई की बुद्धि में नहीं है कि परमपिता परमात्मा को ट्रूथ अर्थात् सत कहते हैं और भारत उनकी जन्म भूमि है। बाप आकर यह समझाते हैं। यह भारत वास्तव में स्वर्ग था, अब तो नर्क है। मैं भारत को स्वर्ग बनाने आता हूँ।

अभी तुम जानते हो कि बरोबर पहले फॉरेनर्स का राज्य था, तब भी नर्क था, अभी तो और ही रौरव नर्क है। आपस में कितना मतभेद में आकर लड़ते हैं। भाषाओं पर भी कितनी फ्रैक्शन पड़ गई है। गपोड़े मारते रहते हैं – हम सब एक ही हैं। वास्तव में इतने सब मनुष्य ब्रदरहुड हैं। कोई मतभेद नहीं होना चाहिए। धर्मों में भी मतभेद नहीं होना चाहिए। परन्तु कितना मतभेद है! अभी तो भाषाओं का भी मतभेद हो गया है। भावी ड्रामा की। भारत रौरव नर्क बन गया है। कितनी आपस में दुश्मनी है! कौरवों और पाण्डवों की लड़ाई तो लगी नहीं। पाण्डव तो तुम यहाँ बैठे हो। तुम सच्चे-सच्चे ब्राह्मण कुल भूषण भारत की तकदीर हो। तुम्हारा नाम कितना अच्छा है – स्वदर्शन चक्रधारी, त्रिनेत्री, त्रिकालदर्शी। त्रिमूर्ति शिवबाबा तुम्हें ब्रह्मा द्वारा त्रिकालदर्शी बनाते हैं। तीसरा नेत्र खोलते हैं। तीजरी की कथा अथवा सत्य नारायण की कथा वा अमरकथा बात एक ही है। तुम सब भारतवासी अमरकथा सुन रहे हो। जैसे बाप समझाते हैं वैसे तुम बच्चों को भी समझाना चाहिए। पूछते हैं – बाबा, सर्विस कैसे करें? बाबा ने समझाया है जो ब्राह्मण कुल भूषण मनुष्य को हीरे जैसा बनाते हैं, वह अपने पास बोर्ड लगा दें। शिवबाबा का चित्र लगा हुआ हो। शिवबाबा के चित्र के नीचे लिखना है – “बेहद के बाप से जन्म सिद्ध अधिकार स्वर्ग की बादशाही कैसे प्राप्त होती है – वह आकर समझो।” तो मनुष्य आकर समझेंगे। समझानी तो सहज है। बाप आया है, आकर स्वर्ग बना रहा है। यह शिवबाबा की अवतरण भूमि है। परमधाम से बाबा भारत में ही आते हैं। भारत ही सबसे बड़ा तीर्थ स्थान है। सबको मानना चाहिए। गुरुनानक, बुद्ध आदि जो भी हैं सबका पतित-पावन बाप जो है उनकी यह जन्म भूमि है। अभी तो आसुरी राज्य है। यथा राजा रानी काले तथा प्रजा भी काली होगी फिर गोरे बन जायेंगे। इसको कहा जाता है आइरन एज, वह है गोल्डन एज। पावन दुनिया तो है शिवालय। अंग्रेज लोग भी समझते हैं कि गॉड-गॉडेज का राज्य भारत में था। परन्तु कब था, यह नहीं समझते। भारत बहुत साहूकार था, अब तो कंगाल है इसलिए भारत को पैसे देते हैं। गरीब को दान दिया जाता है, तो अब दान देते हैं। भारत से ही बहुत पैसे ले गये हैं। अब फिर भारत को देते रहते हैं। बाप कहते हैं मेरा पार्ट है भारत को हीरे जैसा बनाना। तुम ब्रह्माकुमार-कुमारियां हो, तुमको ही देवी-देवता बनाते हैं। गाया जाता है परमपिता परमात्मा ब्रह्मा द्धारा ब्राह्मण और देवता धर्म स्थापन करते हैं। परन्तु भारतवासी जानते नहीं। न जानना ही नूँध है। तो यह बोर्ड लगा दो कि लौकिक बाप से जन्म-जन्मान्तर हद का वर्सा लेते आये हो, अब पारलौकिक बाप से आकर स्वर्ग का वर्सा लो। प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान संगम पर ही होते हैं। तुम ब्रह्माकुमारियां हो तो जरूर शिवबाबा के पोत्रे-पोत्रियां ठहरे। यह सबको समझाओ कि तुम प्रजापिता ब्रह्मा की औलाद हो और सतयुगी दैवी स्वराज्य के हकदार हो। कितनी सहज बाते हैं। यह ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ शिवबाबा के पोत्रे-पोत्रियां ठहरे। कल्प पहले भी बने थे, अभी फिर बने हो, सो देवी-देवता बनने के लिए। शिवबाबा का चित्र भी साथ में हो। भारत को स्वर्ग बनाने में जो मदद करते हैं, उनको इज़ाफा जरूर मिलता है। जो ब्राह्मण जैसी-जैसी सेवा करते हैं, वैसा पद लेंगे। बाप से पूरा वर्सा लेने के लिए पवित्र जरूर बनना है। तुम बच्चों को अन्दर में खुशी होती है कि हम श्रीमत पर चल स्वर्ग की राजाई का वर्सा पा रहे हैं। नशा तो जरूर चढ़ना चाहिए। स्वर्ग के मालिक तो सब बनेंगे परन्तु पुरुषार्थ कर अपना ऊंच मर्तबा प्राप्त करो। बाप का नाम बाला करो। गाते हैं – गुरू का निंदक ठौर न पाये। परन्तु उनसे पूछो – कौन सी ठौर? अब तो यह सतगुरू गैरन्टी करते हैं – मैं आया हूँ तुम सबको वापिस ले जाने। तुमको दु:खों से छुड़ाए घर वापिस ले जाऊंगा। यह बाबा ही कह सकते हैं। गाया हुआ है कि मच्छरों सदृश्य गये। विनाश होगा तो भंभोर को आग लगेगी। यह भी गाया हुआ है कि पाण्डवों के लाखा भवन को आग लगाई। लाखा भवन था ना। इनका नाम लखीराज था। तो बरोबर घासलेट ले आये थे जलाने के लिए। प्रैक्टिकल की बातें हैं। आग लगी नहीं, यह तो सिर्फ लिख दिया है। तो तुम बच्चों को कितना फ़खुर से रहना चाहिए क्योंकि तुम भारत की तकदीर बनाने वाले हो। उन्हों ने तो तकदीर को लकीर लगा दी है। अब पैसे आदि सब बाहर से आ रहे हैं। यह रिटर्न सर्विस हो रही है। विनाश सामने खड़ा है। उन्होंने तुम्हारे से बहुत लिया है, भारत को बहुत लूटा है। कितना गुप्त राज़ ड्रामा में नूंधा हुआ है! विलायत वाले तो अब भारत के प्रति दाता हैं। ड्रामा अनुसार यह नूँध है। कल्प पहले भी ऐसे हुआ था। बाप समझाते हैं कल्प-कल्प हम तुम मिले हैं। कल्प-कल्प श्रीमत द्वारा बाप से तुम अपना स्वराज्य पाते हो और कुछ करना नहीं है। अहिंसा परमोधर्म से श्रीमत पर तुम विश्व के मालिक बनते हो। ‘श्री श्री’ गुरूओं को नहीं कहा जा सकता है। शिवबाबा को ही ‘श्री श्री’ कहा जा सकता है। भगवानुवाच – यह वही समय है 5000 वर्ष पहले वाला, जब मैं सभी का उद्धार करने आया हूँ। तुम भी शिवबाबा के पोत्रे-पोत्रियाँ ब्रह्मा के बच्चे ब्रह्माकुमार-कुमारी हो। बड़ी पोजीशन वालों को भी समझा सकते हो। कोई सोशल वर्कर होते हैं, उन्हों को भी अच्छी रीति समझा सकते हो। सर्विस से ही वृद्धि होती है। हिम्मत करनी चाहिए। यह तो जानते हो कि माया भी कम नहीं है। चमाट मारकर ऐसा मुँह फेर देती है, जो राम से विपरीत बुद्धि हो जाते हैं। एक खिलौना है ना – अभी राम के, अभी रावण के बन पड़ते हैं। बाबा ने कहा था विराट रूप भी बनाओ। उसमें वर्ण दिखाने हैं – देवता वर्ण, फिर क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र वर्ण में आये। शूद्र से अब फिर ब्राह्मण वर्ण में आये हो। चौरासी का चक्र भारत का ऐसा चलता है। तुम किसको भी यह समझा सकते हो। इसको कहा जाता है सहज राजयोग। तुम राजयोगी राजऋषि हो, वह हठयोग ऋषि हैं।

तुम अभी श्रीमत पर चल पवित्र बनते हो। सतयुग-त्रेता में है ही सम्पूर्ण निर्विकारी दुनिया। वहाँ माया होती नहीं। बच्चे जैसे पैदा होने होंगे वैसे होंगे। तुम यह प्रश्न क्यों करते हो कि बच्चे कैसे पैदा होंगे? पहले वर्सा तो ले लो। रस्म-रिवाज जो होगी सो होगी। यह क्यों पूछते हो? तुमको तो निर्विकारी बनना है, फिर रस्म जो होगी वही चलेगी। श्रीकृष्ण ने भी गर्भ से जन्म लिया। उनको सम्पूर्ण निर्विकारी कहा जाता है। वह तो गर्भ महल में बड़े आराम से बैठा था। यहाँ तो गर्भ जेल में बहुत सजायें खाकर त्राहि-त्राहि करते हैं। तो ऐसी-ऐसी बातें समझानी हैं। सर्विस करनी है। मित्र, सम्बन्धी, पड़ोसी आदि सबको ज्ञान देना है। बाप का परिचय देते चलो। बेहद का बाप स्वर्ग की स्थापना करने वाला है। बाप कहते हैं मुझे याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश हो जायेंगे। प्रतिज्ञा करो कि – बाबा, मैं आपका मददगार बन पवित्रता का वर्सा जरूर लूँगा। पुरुषार्थ पर सारा मदार है। फालो मदर-फादर। पूछना क्या है? एम ऑब्जेक्ट है ही राजयोग, राजाई के लिए योग। प्रजा का योग नहीं है। राजा बनेंगे तो प्रजा भी जरूर चाहिए। भारत में सदैव राजा-रानी का राज्य चला आया है। अभी तो नो राजा-रानी। बाप फिर से राजा-रानी का राज्य स्थापन कर रहे हैं। इसको कहा जाता है प्रवृत्ति मार्ग। पतित-पावन बाप बैठ समझाते हैं। पतित-पावन जरूर कहना पड़े। पतित-पावन बाप हमको राजयोग सिखलाते हैं। तो सत बाप भी हो गया। सत शिक्षक और सतगुरू भी हो गया। पतित-पावन है फर्स्ट। गुरू की महिमा बहुत भारी है।

जिसके भी घर में कलह होती है तो कहा जाता है कलह-क्लेष से पानी के मटके भी सूख जाते हैं। फिर विघ्न डालने वालों पर दोष पड़ जाता है। ड्रामा अनुसार उनकी बुद्धि का ताला बन्द हो जाता है। कुछ भी बोल नहीं सकेंगे। अगर जाकर निन्दा करेंगे तो गला घुट जाता है। सतगुरू का निन्दक ठौर न पाये। यह तो सत बाप, सत शिक्षक, सतगुरू है। बाप कहते हैं अगर मेरी निन्दा करायेंगे तो ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। विनाश की रिहर्सल भी होती रहेगी। तो मनुष्य कुछ जागेंगे। तुम भल जगाते हो, लेकिन वह घोर नींद में बिल्कुल सोये पड़े हैं। शास्त्रों में तो ग्लानी की बातें लिख दी हैं। सतयुग का नाम गुम कर दिया है। खुशी में तो अन्दर में खग्गियाँ मारनी चाहिए। मात-पिता से मत रूठना। तूफान आयेंगे परन्तु कभी भी बाप को फ़ारकती नहीं देनी है। मात-पिता से कभी मुँह नहीं मोड़ना। माया बड़ी कड़ी है। तुम बच्चों को कभी भी रूठना नहीं चाहिए। तुम सबको हँसाते रहो। बाप द्वारा बड़ी लॉटरी मिली है तो सदैव हर्षित रहना चाहिए। कोई को भी दु:ख नहीं देना है। दु:ख देंगे तो दु:खी होकर मरेंगे। मुख से हमेशा रत्न ही निकलने चाहिए, पत्थर नहीं। पत्थर निकलेंगे तो पत्थरबुद्धि बन जायेंगे। अभी तो कोई सम्पूर्ण बने नहीं हैं। सम्पूर्ण बनने का पुरुषार्थ करना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप का मददगार बन उनसे इज़ाफा (इनाम) लेना है। सतगुरू का नाम बाला करना है। ग्लानी नहीं करानी है।

2) आपस में कलह नहीं करनी है। मुख से सदैव रत्न निकालने हैं, पत्थर नहीं। सबको हँसाना है, रूठना नहीं है।

वरदान:- समर्थ स्थिति के आसन पर बैठ व्यर्थ और समर्थ का निर्णय करने वाले स्मृति स्वरूप भव
इस ज्ञान का इसेन्स है स्मृति स्वरूप बनना। हर कार्य करने के पहले इस वरदान द्वारा समर्थ स्थिति के आसन पर बैठ निर्णय करो कि यह व्यर्थ है वा समर्थ है फिर कर्म में आओ, कर्म करने के बाद फिर चेक करो कि कर्म का आदि, मध्य और अन्त तीनों काल समर्थ रहा? यह समर्थ स्थिति का आसन ही हंस आसन है, इसकी विशेषता ही निर्णय शक्ति है। निर्णय शक्ति द्वारा सदा ही मर्यादा पुरुषोत्तम स्थिति में आगे बढ़ते जायेंगे।
स्लोगन:- अनेक प्रकार के मानसिक रोगों को दूर भगाने का साधन है – साइलेन्स की शक्ति।
Font Resize