13 october ki murli

TODAY MURLI 13 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 13 October 2020

13/10/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, Baba has come to show you the path home. When you remain soul conscious you will be able to see the easy path.
Question: What knowledge do you receive at the confluence age through which the golden-aged deities are called conquerors of attachment?
Answer: At the confluence age the Father tells you the story of immortality and gives you knowledge of eternal souls. You receive the knowledge that this is an imperishable, predestined drama and that every soul plays his own part. A soul leaves his body and takes another one. Therefore, there is no need to cry. It is by souls receiving this knowledge now that the golden-aged deities are called conquerors of attachment. There, there is no mention of death. They leave their old bodies in happiness and adopt new ones.
Song: Show the path to the blind o God!

Om shanti. The spiritual Father says to the sweetest spiritual children: I show you the path, but first consider yourselves to be souls. Sit in soul consciousness and you will find this path to be easy. You have been stumbling for half a cycle on the path of devotion. There is an enormous amount of paraphernalia on the path of devotion. The Father has now explained that there is only one unlimited Father. The Father says: I am showing you the path. No one in the world even knows which path He shows. It is the path to liberation and liberation-in-life: liberation and salvation. The abode of peace is called liberation. A soul cannot speak without a body. Sound can only be made through these organs. Sound is produced through a mouth. If there were no mouth, where could sound come from? Souls receive these organs in order to act. In Ravan’s kingdom you perform sinful acts. Those sinful acts are very dirty acts. In the golden age, there is no Ravan. Therefore, actions are neutral. The five vices are not there. That is called heaven. The residents of Bharat were residents of heaven, but they are now called residents of hell. They are drowning in the river of poison. They all cause each other sorrow. They say: Baba, take us to a place where there is no mention of sorrow. When Bharat was heaven, there was no mention of sorrow. They came from heaven into hell. They now have to go to heaven. This is a play. The Father Himself sits here and explains to you children. This is the true company of the Truth (satsang). You are remembering the true Father. He alone is God, the Highest on High. He is the Creator. You receive your inheritance from Him. The Father Himself gives you children your inheritance. Even though they have limited fathers, they remember Him and say: O God, O Supreme Father, Supreme Soul, have mercy! They have become distressed from stumbling along so much on the path of devotion. They say: O Baba, give us our inheritance of happiness and peace! Only the Father can give this and that too is for 21 births. You can calculate this. In the golden age, when it was their kingdom, there must definitely have been fewer people. There was only one religion and only one kingdom. That is called heaven, the land of happiness. The new world is called satopradhan (completely pure). The old world is called tamopradhan (completely impure). Everything is at first satopradhan and it then goes through the stages of sato, rajo and tamo. Young children are called satopradhan. Young children are said to be more elevated than great souls (mahatmas). Mahatmas take birth, grow up and experience the vices and then leave home. Small children don’t know anything about vice; they are completely innocent. This is why they are said to be more elevated than mahatmas. Deities are praised as being full of all virtues. Sadhus are never given this praise. The Father has explained the meaning of violence and non-violence. To hit someone is called violence. The greatest violence is to use the sword of lust. Deities are not violent. They do not use the sword of lust. The Father says: I have now come to change you from human beings into deities. Deities are in heaven. No one here can call himself a deity. Everyone understands himself to be a degraded, vicious sinner. So, how could they call themselves deities? That is why they have called it the Hindu religion. In fact, it was the original, eternal deity religion. The word “Hindu” originated from the word “Hindustan” so they called it the Hindu religion. You say that you are of the deity religion and yet they put you in the column under Hindu religion. They say that they only have a column for the Hindu religion. Because of being impure none of them can call themselves deities. You now understand that you were worthy-of-worship deities and that you have now become worshippers. Previously, you did unadulterated worship of Shiva. Then, you became adulterated worshippers. The Father is only One. You receive your inheritance from Him. There are many types of deity etc. You do not receive any inheritance from them. You cannot receive the inheritance from this Brahma either. One is the incorporeal Father and the other is your physical father. Even though they have physical fathers, they continue to say: O God! O Supreme Father! You wouldn’t say that to your physical father. An inheritance is received from a father. A husband and wife are half-partners. Therefore, she should have half of everything. First, half should be given to her as her share and then the children should be given the other half. However, these days, the children are given all the wealth. Some have a lot of attachment. They think that it is their children who will have all rights when they die. Today’s children don’t even ask about their mother after the father’s departure. Some love their mother. Some, however, oppose their mother. These days, the majority don’t ask after their mother. They waste all the money. Some adopted children are also like that. They trouble their mother a great deal. You children heard the song. They say: Baba, now show us the path to happiness where there is rest. There is no happiness in Ravan’s kingdom. Those on the path of devotion don’t even understand that Shiva is separate from Shankar. They just continue to bow their heads and read scriptures. OK, what do you receive from that? They don’t know anything. Only the one Father is the Bestower of peace and happiness for all. In the golden age, there is happiness as well as peace. There was peace and happiness in Bharat but they no longer exist. This is why, in their devotion, they continue to stumble from door to door. You now understand that only the one Father takes you to the land of peace and the land of happiness. Baba, we will only remember You. We will claim our inheritance from You alone. The Father says: You have to forget your bodies and all your bodily relations. Remember the one Father alone! You souls have to become pure here. If you don’t remember Him, you will have to experience punishment. Your status will be reduced. This is why the Father says: Make effort to have remembrance. He explains to you souls. There are no other satsangs etc. where “O spiritual children” is said. This is spiritual knowledge which you children receive from the spiritual Father. “Spirit” means incorporeal. Shiva too is incorporeal. You souls are points; you are very tiny. No one can see a soul without having a divine vision. Only the Father gives divine visions. Devotees sit and worship Hanuman and Ganesh etc. Now, how would they have visions of them? The Father says: I am the One who is the Bestower of divine visions. I, Myself, give visions to those who have done a lot of devotion. However, there is no benefit in those. They just become happy. They still continue to commit sin. They don’t attain anything. How could they become anything without studying? Deities are full of all virtues. You too have to become like that. The rest are all visions of the path of devotion. You will actually swing with Krishna and be with him in heaven. It depends on how much you study. To the extent that you follow shrimat, so you will claim an elevated status. Shrimat is given by God. You do not call it Krishna’s shrimat. The Krishna soul claimed his status by following the shrimat of the Supreme Father, the Supreme Soul. You souls were also in the deity religion. In other words, you were in Krishna’s dynasty. The people of Bharat don’t know what the relationship of Radhe and Krishna is. Each comes from a different kingdom. Then, on their marriage, they become Lakshmi and Narayan. The Father has come to explain all of these things. You are now studying to become the princes and princesses of heaven. It is at the time of the marriage of the prince and princess that their names are changed. Therefore, the Father makes you children into such deities. However, that is only if you follow the Father’s shrimat. You are mouth-born children. They are born through a womb. Those brahmins bind a couple together and make them sit on the pyre of lust. You true Brahmins now take them off the pyre of lust and tie them with the bond of sitting on the pyre of knowledge. Therefore, they have to let go of the other bond. Children from here fight and quarrel and waste all their money. Nowadays, there is a lot of dirt in the world. The worst sickness of all is the cinema. Even good children get spoilt by going to the cinema. Therefore, BKs are also forbidden to go to the cinema. However, for those who are strong, Baba says: Do service there too. Explain to them that that cinema is limited. There is also an unlimited cinema. Those limited and false cinemas started from the unlimited cinema. The Father has now explained to you children that that is the soul world where all souls reside and that the subtle region is in between there and here. This is the physical world where the whole play takes place. This cycle continues to turn. You Brahmin children have to become spinners of the discus of self-realisation. It is not the deities who have to become this. However, because they are effort-makers, Brahmins are not given these symbols. Today, they are moving along well. Tomorrow, they fall. This is why these symbols are given to the deities. They portray Shri Krishna killing Akasur and Bakasur etc. with a discus. However, he is said to have the highest religion of non-violence, so how could he kill? All of that is the paraphernalia of devotion. Wherever you go, there will be an oval-shaped image (lingam) of Shiva. So many different names have been given. They make so many deities out of clay. They decorate them. They spend thousands of rupees on them. They create them, worship them, sustain them and then sink them! They spend so much money on the worship of dolls. They don’t gain anything from that. The Father explains: All of that devotion is for wasting money. They have continued to come down the ladder. When the Father comes, it becomes the stage of ascending for everyone. He takes you all to the land of peace and the land of happiness. There is no question of wasting money in this. By wasting money on the path of devotion, you became insolvent. The Father sits here and explains the story of becoming solvent and insolvent. You belonged to this dynasty of Lakshmi and Narayan, did you not? The Father now gives you teachings to change you from ordinary humans into Narayan. Those people relate the story of the third eye and the story of immortality but all of those are lies. This is the story of the third eye through which each soul’s third eye of knowledge opens. The whole cycle enters the intellect. Each of you is receiving a third eye of knowledge. You are also listening to the story of immortality. The immortal Baba is telling you the story of immortality. He is making you into the masters of the land of immortality. You never experience death there. People here have so much fear of death. There, there is no fear of dying and no crying. You leave your old body in happiness and take a new one. Here, people cry so much; this is the world of tears. The Father says: This drama is predestined. Each one is playing his own part. The deities are conquerors of attachment. There are innumerable gurus in the world and they all have different opinions. Each one’s opinion is his own. Here, there is worship of a deity (goddess) of contentment. The deities of contentment can only exist in the golden age. How can they exist here? In the golden age, deities are always content. Here, everyone has one desire or another. There, there are no desires. The Father makes everyone content. You become multimillionaires. Because nothing is unattained there, there is no worry about attaining anything. There are no worries there. The Father says: I am the Bestower of Salvation for everyone. You children are given happiness for 21 births. You have to remember such a Father. It is by having remembrance of Him that your sins are burnt away and you become satopradhan. These things have to be understood. You will claim an elevated status and your subjects will be created to the extent that you explain to others. You are not being told a story of some sadhu etc. God is sitting here and explaining through this one’s mouth. You are now becoming deities of contentment. You should now also take a vow to remain pure forever because you have to go to the pure world. Therefore, don’t become impure. The Father has taught you this vow. Human beings now hold many different types of fast. Achcha

To the sweetest, beloved, long-lost and now found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada, the spiritual Father says namaste to the spiritual children

Essence for dharna:

  1. Follow the directions of the one Father and remain constantly content and become deities of contentment. Don’t have any desires here. Acquire all attainments from the Father and become multimillionaires.
  2. The cinema makes you most dirty. You are not allowed to watch films. If you are courageous and can understand the significance between the limited cinema and the unlimited cinema you can do service by explaining it.
Blessing: May you become a Lord of matter by having the stage of putting a full stop, and stopping any upheaval of matter.
The present time is the time for upheaval to increase. In the final paper, on the one side, there will be fearsome forms of matter and, on the other side, fearsome forms of the five vices. Attacks from tamoguni souls and old sanskars will come in the final moments to take their chance. At such a time, as well as having the power to pack up, you also need to have the practice of, one moment being stable in the corporeal form, the next moment being stable in the subtle form and the next moment being stable in the incorporeal form. See, but do not see; hear, but do not hear. When you have such a stage of putting a full stop, you will be able to become a lord of matter and stop any upheaval of matter.
Slogan: In order to have a right to the kingdom free from obstacles, become a server free from obstacles.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 13 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 October 2020

Murli Pdf for Print : – 

13-10-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बाबा आये हैं तुम्हें घर की राह बताने, तुम आत्म-अभिमानी होकर रहो तो यह राह सहज देखने में आयेगी”
प्रश्नः- संगम पर कौन-सी ऐसी नॉलेज मिली है जिससे सतयुगी देवतायें मोहजीत कहलाये?
उत्तर:- संगम पर तुम्हें बाप ने अमरकथा सुनाकर अमर आत्मा की नॉलेज दी। ज्ञान मिला – यह अविनाशी बना-बनाया ड्रामा है, हर एक आत्मा अपना-अपना पार्ट बजाती है। वह एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है, इसमें रोने की बात नहीं। इसी नॉलेज से सतयुगी देवताओं को मोहजीत कहा जाता। वहाँ मृत्यु का नाम नहीं। खुशी से पुराना शरीर छोड़ नया लेते हैं।
गीत:- नयन हीन को राह दिखाओ……

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप कहते कि राह तो दिखलाता हूँ परन्तु पहले अपने को आत्मा निश्चय कर बैठो। देही-अभिमानी होकर बैठो तो फिर तुमको राह बहुत सहज देखने आयेगी। भक्ति मार्ग में आधाकल्प ठोकरें खाई हैं। भक्ति मार्ग की अथाह सामग्री है। अब बाप ने समझाया है बेहद का बाप एक ही है। बाप कहते हैं तुमको रास्ता बता रहा हूँ। दुनिया को यह भी पता नहीं कौन सा रास्ता बताते हैं! मुक्ति-जीवनमुक्ति, गति-सद्गति का। मुक्ति कहा जाता है शान्तिधाम को। आत्मा शरीर बिगर कुछ भी बोल नहीं सकती। कर्मेन्द्रियों द्वारा ही आवाज़ होता है, मुख से आवाज़ होता है। मुख न हो तो आवाज़ कहाँ से आयेगा। आत्मा को यह कर्मेन्द्रियां मिली हैं कर्म करने के लिए। रावण राज्य में तुम विकर्म करते हो। यह विकर्म छी-छी कर्म हो जाते हैं। सतयुग में रावण ही नहीं तो कर्म अकर्म हो जाते हैं। वहाँ 5 विकार होते नहीं। उसको कहा जाता है – स्वर्ग। भारतवासी स्वर्गवासी थे, अब फिर कहेंगे नर्कवासी। विषय वैतरणी नदी में गोता खाते रहते हैं। सब एक-दो को दु:ख देते रहते हैं। अब कहते हैं बाबा ऐसी जगह ले चलो जहाँ दु:ख का नाम न हो। वह तो भारत जब स्वर्ग था तब दु:ख का नाम नहीं था। स्वर्ग से नर्क में आये हैं, अब फिर स्वर्ग में जाना है। यह खेल है। बाप ही बच्चों को बैठ समझाते हैं। सच्चा-सच्चा सतसंग यह है। तुम यहाँ सत बाप को याद करते हो वही ऊंच ते ऊंच भगवान है। वह है रचता, उनसे वर्सा मिलता है। बाप ही बच्चों को वर्सा देंगे। हद का बाप होते हुए भी फिर याद करते हैं – हे भगवान्, हे परमपिता परमात्मा रहम करो। भक्ति मार्ग में धक्के खाते-खाते हैरान हो गये हैं। कहते हैं – हे बाबा, हमको सुख-शान्ति का वर्सा दो। यह तो बाप ही दे सकते हैं सो भी 21 जन्म के लिए। हिसाब करना चाहिए। सतयुग में जब इनका राज्य था तो जरूर थोड़े मनुष्य होंगे। एक धर्म था, एक ही राजाई थी। उनको कहा जाता है स्वर्ग, सुखधाम। नई दुनिया को कहा जाता है सतोप्रधान, पुरानी को तमोप्रधान कहेंगे। हर एक चीज़ पहले सतोप्रधान फिर सतो-रजो-तमो में आती है। छोटे बच्चे को सतोप्रधान कहेंगे। छोटे बच्चे को महात्मा से भी ऊंच कहा जाता है। महात्मायें तो जन्म लेते फिर बड़े होकर विकारों का अनुभव करके घरबार छोड़ भागते हैं। छोटे बच्चे को तो विकारों का पता नहीं है। बिल्कुल इनोसेंट हैं इसलिए महात्मा से भी ऊंच कहा जाता है। देवताओं की महिमा गाते हैं – सर्वगुण सम्पन्न….. साधुओं की यह महिमा कभी नहीं करेंगे। बाप ने हिंसा और अहिंसा का अर्थ समझाया है। किसको मारना इसको हिंसा कहा जाता है। सबसे बड़ी हिंसा है काम कटारी चलाना। देवतायें हिंसक नहीं होते। काम कटारी नहीं चलाते। बाप कहते हैं अब मैं आया हूँ तुमको मनुष्य से देवता बनाने। देवता होते हैं सतयुग में। यहाँ कोई भी अपने को देवता नहीं कह सकते। समझते हैं हम नीच पापी विकारी हैं। फिर अपने को देवता कैसे कहेंगे इसलिए हिन्दू धर्म कह दिया है। वास्तव में आदि सनातन देवी-देवता धर्म था। हिन्दू तो हिन्दुस्तान से निकाला है। उन्हों ने फिर हिन्दू धर्म कह दिया है। तुम कहेंगे – हम देवता धर्म के हैं तो भी हिन्दू में लगा देंगे। कहेंगे हमारे पास कॉलम ही हिन्दू धर्म का है। पतित होने के कारण अपने को देवता कह नहीं सकते हैं।

अभी तुम जानते हो – हम पूज्य देवता थे, अब पुजारी बने हैं। पूजा भी पहले सिर्फ शिव की करते हैं फिर व्यभिचारी पुजारी बनें। बाप एक है उनसे वर्सा मिलता है। बाकी तो अनेक प्रकार की देवियाँ आदि हैं। उनसे कोई वर्सा नहीं मिलता है। इस ब्रह्मा से भी तुमको वर्सा नहीं मिलता। एक है निराकारी बाप, दूसरा है साकारी बाप। साकारी बाप होते हुए भी हे भगवान, हे परमपिता कहते रहते हैं। लौकिक बाप को ऐसे नहीं कहेंगे। तो वर्सा बाप से मिलता है। पति और पत्नी हाफ पार्टनर होते हैं तो उनको आधा हिस्सा मिलना चाहिए। पहले आधा उनका निकाल बाकी आधा बच्चों को देना चाहिए। परन्तु आजकल तो बच्चों को ही सारा धन दे देते हैं। कोई-कोई का मोह बहुत होता है, समझते हैं हमारे मरने बाद बच्चा ही हकदार रहेगा। आजकल के बच्चे तो बाप के चले जाने पर माँ को पूछते भी नहीं। कोई-कोई मातृ-स्नेही होते हैं। कोई फिर मातृ-द्रोही होते हैं। आजकल बहुत करके मातृ द्रोही होते हैं। सब पैसे उड़ा देते हैं। धर्म के बच्चे भी कोई-कोई ऐसे निकल पड़ते हैं जो बहुत तंग करते हैं। अब बच्चों ने गीत सुना, कहते हैं बाबा हमको सुख का रास्ता बताओ – जहाँ चैन हो। रावण राज्य में तो सुख हो न सके। भक्ति मार्ग में तो इतना भी नहीं समझते कि शिव अलग है, शंकर अलग है। बस माथा टेकते रहो, शास्त्र पढ़ते रहो। अच्छा, इससे क्या मिलेगा, कुछ भी पता नहीं। सर्व के शान्ति का, सुख का दाता तो एक ही बाप है। सतयुग में सुख भी है तो शान्ति भी है। भारत में सुख शान्ति थी, अब नहीं है इसलिए भक्ति करते दर-दर धक्के खाते रहते हैं। अभी तुम जानते हो शान्तिधाम, सुखधाम में ले जाने वाला एक ही बाप है। बाबा हम सिर्फ आपको ही याद करेंगे, आपसे ही वर्सा लेंगे। बाप कहते हैं देह सहित देह के सर्व सम्बन्धों को भूल जाना है। एक बाप को याद करना है। आत्मा को यहाँ ही पवित्र बनना है। याद नहीं करेंगे तो फिर सज़ायें खानी पड़ेंगी। पद भी भ्रष्ट हो जायेगा इसलिए बाप कहते हैं याद की मेहनत करो। आत्माओं को समझाते हैं। और कोई भी सतसंग आदि ऐसा नहीं होगा जहाँ ऐसे कहे – हे रूहानी बच्चों। यह है रूहानी ज्ञान, जो रूहानी बाप से ही बच्चों को मिलता है। रूह अर्थात् निराकार। शिव भी निराकार है ना। तुम्हारी आत्मा भी बिन्दी है, बहुत छोटी। उनको कोई देख न सके, सिवाए दिव्य दृष्टि के। दिव्य दृष्टि बाप ही देते हैं। भगत बैठ हनूमान, गणेश आदि की पूजा करते हैं अब उनका साक्षात्कार कैसे हो। बाप कहते हैं दिव्य दृष्टि दाता तो मैं ही हूँ। जो बहुत भक्ति करते हैं तो फिर मैं ही उनको साक्षात्कार कराता हूँ। परन्तु इससे फायदा कुछ भी नहीं। सिर्फ खुश हो जाते हैं। पाप तो फिर भी करते हैं, मिलता कुछ भी नहीं। पढ़ाई बिगर कुछ बन थोड़ेही सकेंगे। देवतायें सर्वगुण सम्पन्न हैं। तुम भी ऐसे बनो ना। बाकी तो वह है सब भक्ति मार्ग का साक्षात्कार। सचमुच कृष्ण से झूलो, स्वर्ग में उनके साथ रहो। वह तो पढ़ाई पर है। जितना श्रीमत पर चलेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। श्रीमत भगवान की गाई हुई है। कृष्ण की श्रीमत नहीं कहेंगे। परमपिता परमात्मा की श्रीमत से कृष्ण की आत्मा ने यह पद पाया है। तुम्हारी आत्मा भी देवता धर्म में थी अर्थात् कृष्ण के घराने में थी। भारतवासियों को यह पता नहीं है कि राधे-कृष्ण आपस में क्या लगते थे। दोनों ही अलग-अलग राजाई के थे। फिर स्वयंवर बाद लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। यह सब बातें बाप ही आकर समझाते हैं। अब तुम पढ़ते ही हो स्वर्ग का प्रिन्स-प्रिन्सेज बनने के लिए। प्रिन्स-प्रिन्सेज का जब स्वयंवर होता है तब फिर नाम बदलता है। तो बाप बच्चों को ऐसा देवता बनाते हैं। अगर बाप की श्रीमत पर चलेंगे तो। तुम हो मुख वंशावली, वह हैं कुख वंशावली। वह ब्राह्मण लोग हथियाला बांधते हैं काम चिता पर बिठाने का। अभी तुम सच्ची-सच्ची ब्राह्मणियां काम चिता से उतार ज्ञान चिता पर बिठाने हथियाला बांधते हो। तो वह छोड़ना पड़े। यहाँ के बच्चे तो लड़ते-झगड़ते पैसा भी सारा बरबाद करते हैं। आजकल दुनिया में बहुत गन्द है। सबसे गन्दी बीमारी है बाइसकोप। अच्छे बच्चे भी बाइसकोप में जाने से खराब हो पड़ते हैं इसलिए बी.के. को बाइसकोप में जाना मना है। हाँ, जो मजबूत हैं, उनको बाबा कहते हैं वहाँ भी तुम सर्विस करो। उनको समझाओ यह तो है हद का बाइसकोप। एक बेहद का बाइसकोप भी है। बेहद के बाइसकोप से ही फिर यह हद के झूठे बाइसकोप निकले हैं।

अभी तुम बच्चों को बाप ने समझाया है – मूलवतन जहाँ सभी आत्मायें रहती हैं फिर बीच में है सूक्ष्मवतन। यह है – साकार वतन। खेल सारा यहाँ चलता है। यह चक्र फिरता ही रहता है। तुम ब्राह्मण बच्चों को ही स्वदर्शन चक्रधारी बनना है। देवताओं को नहीं। परन्तु ब्राह्मणों को यह अलंकार नहीं देते हैं क्योंकि पुरूषार्थी हैं। आज अच्छे चल रहे हैं, कल गिर पड़ते हैं इसलिए देवताओं को दे देते हैं। कृष्ण के लिए दिखाते हैं स्वदर्शन चक्र से अकासुर-बकासुर आदि को मारा। अब उनको तो अहिंसा परमोधर्म कहा जाता है फिर हिंसा कैसे करेंगे! यह सब है भक्तिमार्ग की सामग्री। जहाँ जाओ शिव का लिंग ही होगा। सिर्फ नाम कितने अलग-अलग रख दिये हैं। मिट्टी की देवियाँ कितनी बनाते हैं। श्रृंगार करते हैं, हज़ारों रूपया खर्च करते हैं। उत्पत्ति की फिर पूजा करेंगे, पालना कर फिर जाए डुबोते हैं। कितना खर्चा करते हैं गुड़ियों की पूजा में। मिला तो कुछ भी नहीं। बाप समझाते हैं यह सब पैसे बरबाद करने की भक्ति है, सीढ़ी उतरते ही आये हैं। बाप आते हैं तो सबकी चढ़ती कला होती है। सबको शान्तिधाम-सुखधाम में ले जाते हैं। पैसे बरबाद करने की बात नहीं। फिर भक्तिमार्ग में तुम पैसे बरबाद करते-करते इनसालवेन्ट बन गये हो। सालवेन्ट, इनसालवेन्ट बनने की कथा बाप बैठ समझाते हैं। तुम इन लक्ष्मी-नारायण की डिनायस्टी के थे ना। अब तुमको नर से नारायण बनने की शिक्षा बाप देते हैं। वो लोग तीजरी की कथा, अमर कथा सुनाते हैं। है सब झूठ। तीजरी की कथा तो यह है, जिससे आत्मा का ज्ञान का तीसरा नेत्र खुलता है। सारा चक्र बुद्धि में आ जाता है। तुमको ज्ञान का तीसरा नेत्र मिल रहा है, अमरकथा भी सुन रहे हो। अमर बाबा तुमको कथा सुना रहे हैं – अमरपुरी का मालिक बनाते हैं। वहाँ तुम कभी मृत्यु को नहीं पाते। यहाँ तो काल का मनुष्यों को कितना डर रहता है। वहाँ डरने की, रोने की बात नहीं। खुशी से पुराना शरीर छोड़ नया ले लेते हैं। यहाँ कितना मनुष्य रोते हैं। यह है ही रोने की दुनिया। बाप कहते हैं यह तो बना-बनाया ड्रामा है। हर एक अपना-अपना पार्ट बजाते रहते हैं। यह देवतायें मोहजीत हैं ना। यहाँ तो दुनिया में अनेक गुरू हैं जिनकी अनेक मतें मिलती हैं। हर एक की मत अपनी। एक सन्तोषी देवी भी है जिसकी पूजा होती है। अब सन्तोषी देवियाँ तो सतयुग में हो सकती हैं, यहाँ कैसे हो सकती। सतयुग में देवतायें सदैव सन्तुष्ट होते हैं। यहाँ तो कुछ न कुछ आश रहती है। वहाँ कोई आश नहीं होती। बाप सबको सन्तुष्ट कर देते हैं। तुम पद्मपति बन जाते हो। कोई अप्राप्त वस्तु नहीं रहती जिसकी प्राप्ति की चिंता हो। वहाँ चिंता होती ही नहीं। बाप कहते हैं सर्व का सद्गति दाता तो मैं ही हूँ। तुम बच्चों को 21 जन्म के लिए खुशी ही खुशी देते हैं। ऐसे बाप को याद भी करना चाहिए। याद से ही तुम्हारे पाप भस्म होंगे और तुम सतोप्रधान बन जायेंगे। यह समझने की बातें हैं। जितना औरों को जास्ती समझायेंगे उतना प्रजा बनती जायेगी और ऊंच पद पायेंगे। यह कोई साधू आदि की कथा नहीं हैं। भगवान बैठ इनके मुख द्वारा समझाते हैं। अभी तुम सन्तुष्ट देवी-देवता बन रहे हो। अभी तुमको व्रत भी रखना चाहिए – सदैव पवित्र रहने का क्योंकि पावन दुनिया में जाना है तो पतित नहीं बनना है। बाप ने यह व्रत सिखाया है। मनुष्यों ने फिर अनेक प्रकार के व्रत बनाये हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) एक बाप की मत पर चल सदा सन्तुष्ट रह सन्तोषी देवी बनना है। यहाँ कोई भी आश नहीं रखनी है। बाप से सर्व प्राप्तियां कर पद्मपति बनना है।

2) सबसे गंदा बनाने वाला बाइसकोप (सिनेमा) है। तुम्हें बाइसकोप देखने की मना है। तुम बहा-दुर हो तो हद और बेहद के बाइसकोप का राज़ समझ दूसरों को समझाओ। सर्विस करो।

वरदान:- फुलस्टॉप की स्टेज द्वारा प्रकृति की हलचल को स्टॉप करने वाले प्रकृतिपति भव
वर्तमान समय हलचल बढ़ने का समय है। फाइनल पेपर में एक तरफ प्रकृति का और दूसरी तरफ पांच विकारों का विकराल रूप होगा। तमोगुणी आत्माओं का वार और पुराने संस्कार..सब लास्ट समय पर अपना चांस लेगे। ऐसे समय पर समेटने की शक्ति द्वारा अभी-अभी साकारी, अभी-अभी आकारी और अभी-अभी निराकारी स्थिति में स्थित होने का अभ्यास चाहिए। देखते हुए न देखो, सुनते हुए न सुनो। जब ऐसी फुलस्टॉप की स्टेज हो तब प्रकृतिपति बन प्रकृति की हलचल को स्टॉप कर सकेंगे।
स्लोगन:- निर्विघ्न राज्य अधिकारी बनने के लिए निर्विघ्न सेवाधारी बनो।

TODAY MURLI 13 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 13 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 12 October 2018 :- Click Here

13/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, drums of happiness should beat in your hearts because the unlimited Father has come to give you the unlimited inheritance.
Question: What illusion has Maya created for human beings due to which they are unable to make effort to go to heaven?
Answer: When people see the pomp of Maya of the final period over the last hundred years, when they see the inventions of aeroplanes, electricity etc., they think that heaven is here. They have wealth, palaces, motor cars and so they think that this is it, that this is heaven for them. This happiness is from Maya and it has put them under an illusion. Because of this they don’t make effort to go to heaven.
Song: Mother, o mother, you are the bestower of fortune for all.

Om shanti. It has been explained to you children that praise is sung of those who have been and gone. The people of Bharat don’t know this. Even the scholars and pundits do not know this. Jagadamba, the World Mother, means the one who creates the people of the world. You know that the one who is called Jagadamba is now sitting personally in front of you children. They have been singing this on the path of devotion (without any meaning). You children have now received knowledge, that is, you have received Jagadamba’s introduction. They have created many different pictures in the name of Jagadamba. In fact, whether she is called Kali, Saraswati or Durga, there is only one Jagadamba. By her being given many names, people have become confused. They also speak of Kali of Calcutta. However, there is no such person as the one in that picture. The Father says: All of that is the paraphernalia of the path of devotion. The kingdom of Ravan starts at the time that the path of devotion starts. People don’t know who Ravan is or who Rama is. This is an unlimited story. You children know that the kingdom of Ravan is now to end and that the kingdom of Rama is about to begin. Rama is definitely someone who gives you happiness and Ravan is definitely someone who causes you sorrow. There is the kingdom of Ravan in Bharat and so that is called the cottage of sorrow. The Father has explained that, at present, all of you are in the kingdom of Ravan. It is mainly about Bharat. You have become degraded in the kingdom of Ravan. Rama, the unlimited Father, is the One who gives you happiness. At this time all human beings are following devilish dictates. Actually, there isn’t a Ravan with ten heads. Those are the dictates of the five vices, which are called the dictates of Ravan. Shiv Baba’s directions are shrimat. It is now the devilish community. This is an unlimited matter. You receive happiness for 21 births by following shrimat. By following devilish dictates, you have received sorrow for 63 births. You know that Ravan, whom people have been burning, is the biggest enemy. They don’t comprehend when they will finally stop burning Ravan. They say: Burning Ravan has continued from time immemorial. They create an effig y of himand continue to burn it. Truly, Ravan has caused everyone sorrow, especially in Bharat. Therefore, Ravan is a great enemy but no one knows about this unlimited enemy. The unlimited Father comes and gives you unlimited happiness. Even scholars and pundits don’t know such an easy thing. You children know that you have to claim your inheritance of happiness from the unlimited Father. However, you repeatedly forget the Father. On the path of devotion you have been calling out: O Baba, have mercy! Have mercy on me! I continue to have mercy. With whatever feelings you worship the deities, I definitely give you temporary happiness for that. No one else can give you happiness. I alone am the Bestower of Happiness. I am also the Bestower on the path of devotion. They say: God, the Father, gave this. They say this of God. Then, why do you say that such-and-such a holy man gave you wealth, since it is only the one Father who gives you happiness? People even sing: O God, remove our sorrow! Then, why do they say that such-and-such a holy man removed their sorrow or gave them a child? They believe that they received happiness due to his blessings. When they profit in their business, they think that it is because of the blessing of their guru. If they have a loss, they don’t think that it is due to the lack of their guru’s blessings. Poor devotees continue to say whatever enters their minds without understanding anything; they continue to follow whatever they hear. This is also in the drama. The Father now comes and makes you belong to Him. Maya causes a lot of obstacles in your having love for the Father. She completely turns your face away. She makes you divorce the Father who gives you happiness for 21 births. The Father explains that there is the difference of day and night between the path of knowledge and the path of devotion. When people have become poverty-stricken by continually doing devotion, the Father comes, gives knowledge and makes you prosperous for 21 births. You have been doing that devotion for birth after birth and received temporary happiness. There is a lot of sorrow. The Father says: I have come to give you back the kingdom you lost. This is something unlimited. It is not anything else. Lakshmi and Narayan etc. were viceless deities. There would have been so many diamonds and jewels in their palaces. As you progress further, you will see a great deal. The closer you come, the more scenes of heaven you will see. There will be such big courts. There will be such good decorations of gold and diamonds on the windows etc. That is all. Just wait for the night to end and the day will begin. The Paradise that you see in divine visions, you will definitely see in a practical way. The destruction that you have seen in divine visions, you will definitely also see practically. Drums of happiness should beat inside you. You are claiming your unlimited inheritance from the unlimited Father. These pictures are not accurate. You see all of those things in divine visions. You go there and perform dances etc. You used to make so many pictures etc. Whatever the Father showed you in divine vision will definitely happen in a practical way. You know that this dirty world is going to end. You are sitting here making effort to claim your self-sovereignty by following shrimat. There is a lot of difference between that path of devotion and this path of knowledge. Look at what the condition of Bharat has become. They don’t have food to eat and yet look at the big plans they make. There is very little time left. Look what their plans are and what your plans are! These things are not mentioned in the scriptures. They have written so many stories in the Ramayana etc., but it is not like that. Why do they burn Ravan every year? If Ravan had been burnt, he should have been destroyed, should he not? Look at the income on the path of devotion and the income on the path of knowledge! Baba fills your treasure-store completely. It takes effort. You definitely have to remain pure. It is remembered: Why should we renounce nectar and drink poison? They have created a lake in Amritsar and given it the name ‘Lake of Nectar’. They take a dip in the lake. There is also a lake with the name ‘Mansarovar’. They don’t understand the meaning of ‘Mansarovar’. Mansarovar means that the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, the Ocean of Knowledge, enters a human body and speaks this knowledge. People have sat and made up so many stories. The Gita is the mother, the jewel, of all the scriptures. They have then said that that was spoken by Krishna. They have also written so many things about Krishna: that he was bitten by a snake, that he abducted women. They have made so many false allegations. You can now explain to them that it does not relate to Krishna. It is the Supreme Father, the Supreme Soul, who sits here and tells you the essence of the Vedas, the scriptures and the Granth through Brahma. N umber one is the Shrimad Bhagawad Gita. The people of Bharat only have one religious scripture. Because that has been falsified, all its children, the Vedas and the scriptures, have also become false. The Father explains to you so clearly. In spite of that, as you move along, you continue to be slapped by Maya; you don’t imbibe anything. This is a battlefield. You are the children who have become Brahmins. Such things are not written in the Gita etc. There is the mouth-born creation of Brahma. The sacrificial fire was created through Brahma. There is truly the sacrificial fire of the knowledge of Rudra and so where did the battlefield come from? The sacrificial fire in which the horse was sacrificed for self-sovereignty is also remembered. We are sacrificing these chariots. They have then created a sacrificial fire of Daksh Prajapita and sat and sacrificed a horse in that. They have written all sorts of things. You know that Bharat was heaven in the golden age and so there would surely have been very few people there. There were few deities there. There will definitely be the kingdom by the banks of the River Jamuna. Just the deities will rule there. There will be no heat etc. there that they would have to go to Kashmir or Simla etc. The elements will also have become completely satopradhan. Only those who are to understand these things will understand them. The golden age is called heaven and the iron age is called hell. The copper age is not said to be that much of a hell. In the silver age the degrees are reduced by two. The maximum happiness is in heaven. They say that so-and-so has gone to heaven, but they don’t understand the meaning of heaven. If he became a resident of heaven, then he was surely in hell prior to that. Every human being is in hell. The Father is now giving you the unlimited kingdom. Everything there will be yours; the earth, the sky etc. will all be yours. You will rule the unshakeable, constant and peaceful kingdom. There will be no mention of sorrow. Therefore, you should make so much effort for that. Look what the stage of the children is like. You know that your Mama and Baba are making very good effort. Why should you also not make effort and claim your inheritance? The Father says: Children, don’t become tired. Continue to follow shrimat. Never forget shrimat. You need to be very cautious about this. Whatever you do, ask Baba: Baba, I am confused about this. I will not accumulate sin by doing this, will I? Baba never takes anything from anyone. Even on the path of devotion, people donate in the name of God and then receive something in return. What would Shiv Baba do by taking something from you? He doesn’t have to build any palaces. He does everything for you children. He has buildings built for you to stay in at the end. Your memorial temple is here and you are also sitting here. Serviceable children will see a lot of splendour as they progress further. While sitting here, you will tour around heaven. Then, you will go there and build palaces. There is a competition of buildings. Look how much they have built in the last hundred years. They have made Bharat into Paradise. So, what would they not have in just one hundred years there? You can understand this. All of sciencewill be useful to you there. The happiness of science will be experienced there. Here, there is sorrow. They make so much effort in science. You children know that they are just praising themselves. There is temporary, momentary happiness. It is the pomp of Maya of the final time. It is now that they travel in aeroplanes and rockets etc. None of those facilities existed before. Previously there wasn’t electricity either. All of that is the comfort of Maya which creates an illusion for people. People think that this is heaven; there used to be vimans etc. in heaven, and so this is heaven. They don’t understand that preparations are being made for heaven now. They think that, because they have wealth, they have palaces and so that’s it; this is heaven for them here. Achcha, let that heaven be in their fortune! We have to make effort and go to the true heaven. You make effort for that. You mustn’t become slack in your efforts. You have to live at home with your family and make effort. You have to do service. You have to become pure and also make your friends and relatives worthy. Tell them sweet things. Baba has explained the point of the two fathers very clearly. You are to receive your inheritance of the Father’s property. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Never become tired of making effort. Be very cautious as you continue to follow shrimat. Never become confused.
  2. Never perform any sinful acts. In order to go to the true heaven, do the service of becoming pure and making others pure.
Blessing: May you be a knower of all secrets and accumulate a Godly income while being free from any attractive temptation and by making your lokiks family.
Many children, while fulfilling their responsibilities in carrying out their family tasks of their household and family relationships and connections make everyone content with their unlimited intellects By knowing the secrets of the Godly income, they too claim their special share. There are such economical children who belong to the One. They are free from any attractive temptation and use all their treasures, time, powers and physical wealth economically on their family: they use it generously for their alokik tasks. Such yuktiyukt children who understand all secrets are worthy of praise.
Slogan: Those who perform every task while being embodiments of remembrance become towers of light. (Lighthouses).

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 13 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 October 2018

To Read Murli 12 October 2018 :- Click Here
13-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हारी दिल में खुशी के नगाड़े बजने चाहिए क्योंकि बेहद का बाप तुम्हें बेहद का वर्सा देने आया है”
प्रश्नः- माया ने मनुष्यों को किस भ्रम में भरमा दिया है जिस कारण वे स्वर्ग में चलने का पुरुषार्थ नहीं कर सकते?
उत्तर:- माया का यह जो पिछाड़ी का पाम्प है, 100 वर्ष के अन्दर एरोप्लेन, बिजली आदि क्या-क्या निकल गया है…. इस पाम्प को देखते हुए मनुष्य समझते हैं स्वर्ग तो यहाँ ही है। धन है, महल हैं, गाड़ियां हैं…. बस, हमारे लिए यहाँ ही स्वर्ग है। यह माया का सुख है जो भरमा देता है। इसके कारण ही वे स्वर्ग में चलने का पुरुषार्थ नहीं करते हैं।
गीत:- माता ओ माता…..

ओम् शान्ति। अभी यह तो बच्चों को समझाया गया है कि जो होकर जाते हैं उनकी महिमा गाई जाती है। भारतवासी तो जानते नहीं। विद्धान पण्डित भी नहीं जानते। जगत अम्बा अर्थात् जगत के मनुष्यों को रचने वाली। तुम जानते हो जिसको जगत अम्बा कहते हैं वह अभी बच्चों के सम्मुख बैठी है। भक्तिमार्ग में तो ऐसे ही गाते आये हैं। तुम बच्चों को अभी ज्ञान मिला है अर्थात् जगत अम्बा का परिचय मिला है। जगत अम्बा के नाम से भी भिन्न-भिन्न अनेक चित्र बनाये हैं। वास्तव में है तो एक ही जगत अम्बा, उनको ही काली कहो, सरस्वती कहो, दुर्गा कहो, ढेर नाम रखने से मनुष्य मूँझ गये हैं। काली कलकत्ते वाली भी कहते हैं। परन्तु ऐसा चित्र तो होता नहीं। बाप कहते हैं यह सब भक्ति मार्ग की सामग्री है। जबसे भक्ति मार्ग शुरू होता है तब से रावण राज्य भी शुरू होता है। यह तो मनुष्य जानते नहीं कि रावण क्या है, राम क्या है, यह बेहद की कहानी है। तुम बच्चे अब जानते हो रावण राज्य पूरा हो फिर रामराज्य शुरू होता है। राम जरूर सुख देने वाला होगा, रावण जरूर दु:ख देने वाला होगा। भारत में रावण राज्य है तो उनको शोकवाटिका कहा जाता है। बाप ने समझाया है तुम सब इस समय रावण राज्य में हो। मुख्य भारत की ही बात है। रावण राज्य में तुम भ्रष्टाचारी बन गये हो। राम अर्थात् बेहद का बाप है सुख देने वाला। इस समय सभी मनुष्य हैं आसुरी मत पर। बाकी रावण कोई 10 शीश वाला नहीं है। यह है 5 विकारों की मत, जिसको रावण मत कहा जाता है। शिवबाबा की मत है श्रीमत। अभी आसुरी सम्प्रदाय है ना। यह बेहद की बात है। श्रीमत से 21 जन्म सुख पाते हो। आसुरी मत से 63 जन्म तुमने दु:ख पाया है।

तुम जानते हो यह रावण है बड़े ते बड़ा दुश्मन, जिसको जलाते रहते हैं। समझते नहीं कि आखरीन रावण को जलाना हम बन्द कब करेंगे? कहते हैं – यह रावण को जलाना तो परम्परा से चला आता है। एफ़ीजी बनाए जलाते रहते हैं। बरोबर इस रावण ने सबको दु:ख दिया है, ख़ास भारत को। तो रावण बड़ा दुश्मन हुआ ना। परन्तु इस बेहद के दुश्मन का किसको पता नहीं है। बेहद का बाप आकर बेहद का सुख देते हैं। ऐसी सहज बात भी कोई विद्वान-पण्डित आदि नहीं जानते। तुम बच्चे जानते हो – हमको बेहद के बाप से सुख का वर्सा लेना है। परन्तु फिर घड़ी-घड़ी तुम बाप को भूल जाते हो। भक्ति मार्ग में तुम पुकारते आये हो – हे बाबा, रहम करो, मर्सी ऑन मी। मर्सी तो करता रहता हूँ। जिस-जिस भावना से देवताओं की पूजा करते हैं तो अल्पकाल का सुख जरूर देता हूँ। और कोई सुख दे नहीं सकता। मैं ही हूँ सुख दाता। भक्ति मार्ग में भी देने वाला मैं हूँ। कहते हैं गॉड फादर ने यह दिया। भगवान् के लिए कहते हैं। फिर ऐसे क्यों कहते हो यह धन फलाने साधू ने दिया। जबकि सुख देने वाला है ही एक बाप। गाते भी हैं – हे भगवान्, हमारे दु:ख दूर करो। फिर ऐसे क्यों कहते फलाने साधू ने हमारा यह दु:ख दूर किया, बच्चा दिया। समझते हैं उनकी कृपा से सुख मिला। धन्धे में फ़ायदा होता है तो समझते हैं गुरू कृपा हुई। नुकसान होता है तो ऐसे नहीं कहते हैं कि गुरू की अकृपा हुई। बिचारे भक्त लोग समझने बिगर जो आया सो कहते रहते हैं। जो सुनते उस पर फालो करते रहते हैं। यह भी ड्रामा।

अब बाप आकर तुम्हें अपना बनाते हैं। बाप से प्रीत रखने में भी माया बहुत विघ्न डालती है। एकदम मुँह फिरा देती है। 21जन्म का सुख देने वाले बाप से फारकती दिला देती है। बाप समझाते हैं भक्ति मार्ग और ज्ञान मार्ग में रात-दिन का फ़र्क है। भक्ति करते-करते जब कंगाल बन जाते हैं तब फिर बाप आकर ज्ञान देकर 21 जन्म के लिए तुमको मालामाल कर देते हैं। वह भक्ति तो तुम जन्म बाई जन्म करते रहे, अल्पकाल सुख मिलता है। दु:ख तो बहुत है ना। बाप कहते हैं – मैं आया हूँ तुम्हारा जो गंवाया हुआ राज्य है वह देने। बेहद की बात हुई ना। बाकी और कोई बात नहीं। यह लक्ष्मी-नारायण आदि वाइसलेस देवतायें थे। उन्हों के महलों में कितने हीरे-जवाहरात होंगे। तुम आगे चलकर बहुत कुछ देखेंगे। जितना नज़दीक आते जायेंगे उतना स्वर्ग की सीन देखते जायेंगे। कितनी बड़ी-बड़ी दरबार होगी। खिड़कियों पर सोने, हीरे, जवाहरों का कितना अच्छा श्रृंगार होगा। बस, यह रात पूरी होकर दिन शुरू होगा। जो वैकुण्ठ तुम दिव्य दृष्टि से देखते हो वह प्रैक्टिकल में जरूर देखेंगे। जो विनाश दिव्य दृष्टि से देखा है वह फिर प्रैक्टिकल में देखेंगे। तुम्हारे अन्दर तो खुशी के नगाड़े बजने चाहिए। हम बेहद के बाप से बेहद का वर्सा ले रहे हैं। यह चित्र तो कोई एक्यूरेट नहीं हैं। वह तुम सब दिव्य दृष्टि से देखते हो। वहाँ जाकर रास आदि करते हो। कितने चित्र आदि बनाते थे। जो कुछ दिव्य दृष्टि से बाप ने दिखाया है वह फिर प्रैक्टिकल जरूर होगा। तुम जानते हो यह छी-छी दुनिया ख़त्म हो जायेगी। तुम यहाँ बैठे हो श्रीमत पर अपना स्वराज्य लेने के पुरुषार्थ में। कहाँ वह भक्ति मार्ग, कहाँ यह ज्ञान मार्ग। यहाँ भारत का हाल देखो क्या हुआ है – खाने के लिए अन्न नहीं, बड़े-बड़े प्लैन बना रहे हैं। टाइम है बाकी थोड़ा। उनका प्लैन और तुम्हारा प्लैन देखो कैसा है! यह बातें कोई शास्त्रों में नहीं हैं। रामायण आदि में कितनी कहानियां लिख दी हैं। परन्तु ऐसे तो है नहीं। रावण को फिर वर्ष-वर्ष क्यों जलाते हैं। रावण को जलाया तो वह ख़त्म हो जाना चाहिए ना। भक्ति मार्ग की आमदनी कैसी और ज्ञान मार्ग की आमदनी कैसी है! बाबा एकदम भण्डारा भर देते हैं। उसके लिए मेहनत है। पवित्र जरूर रहना पड़े। गाते भी हैं अमृत छोड़ विष काहे को खाए। अमृत नाम से अमृतसर में एक तालाब बना दिया है। तालाब में डुबकी मारते हैं। मानसरोवर नाम का भी एक तालाब बना दिया है। मानसरोवर का अर्थ भी नहीं समझते हैं। मानसरोवर अर्थात् निराकार परमपिता परमात्मा ज्ञान सागर मनुष्य के तन में आकर यह ज्ञान सुनाते हैं। मनुष्यों ने कथायें आदि कितनी बैठ बनाई हैं। सर्व शास्त्रमई शिरोमणी गीता…….. फिर उसमें कृष्ण वाच लिख दिया है। फिर कृष्ण के लिए भी कितनी बातें लिख दी हैं। सर्प ने डसा, कृष्ण ने स्त्रियों को भगाया…… कितने झूठे कलंक लगाये हैं। अभी तुम समझा सकते हो। कृष्ण की तो बात ही नहीं। यह तो ब्रह्मा द्वारा परमपिता परमात्मा सभी वेदों शास्त्रों ग्रंथों का सार बैठ बतलाते हैं। नम्बरवन है श्रीमद्भगवत गीता। भारतवासियों का धर्मशास्त्र एक ही है, उसको खण्डन कर दिया है तो बाकी जो बाल-बच्चे वेद-शास्त्र हैं सब खण्डन हो गये।

बाप कितनी अच्छी रीति समझाते हैं फिर भी चलते-चलते माया के थप्पड़ खाते रहते हैं, धारणा नहीं करते हैं। यह है युद्धस्थल। तुम हो बच्चे, जो ब्राह्मण बने हो। गीता आदि में तो कोई ऐसी बातें लिखी नहीं हैं। ब्रह्मा की मुख वंशावली हैं, ब्रह्मा द्वारा यज्ञ रचा गया। रूद्र ज्ञान यज्ञ तो बरोबर है फिर युद्ध का मैदान कहाँ से आया? गाया भी हुआ है राजस्व अश्वमेध यज्ञ। यह जो रथ है उसको हम बलि चढ़ाते हैं। वह फिर दक्ष प्रजापति का यज्ञ रच घोड़े को बैठ स्वाहा करते हैं। क्या-क्या लिख दिया है। तुम जानते हो सतयुग में भारत स्वर्ग था तो जरूर वहाँ बहुत थोड़े ही होंगे। देवी-देवता थोड़े थे। जमुना के कण्ठे पर बरोबर राज्य होगा। सिर्फ देवी-देवतायें राज्य करते होंगे। वहाँ तो गर्मी आदि होती नहीं जो कश्मीर, शिमला आदि जाना पड़े। तत्व भी बिल्कुल सतोप्रधान हो जाते हैं। यह भी समझने वाले समझें। सतयुग को स्वर्ग कहा जाता है, कलियुग को नर्क कहा जाता है। द्वापर को इतना नर्क नहीं कहेंगे। त्रेता में भी दो कला कम होती हैं। सबसे जास्ती सुख स्वर्ग में है। कहते हैं फलाना स्वर्ग पधारा। परन्तु स्वर्ग का अर्थ नहीं समझते हैं। स्वर्गवासी हुआ, तो जरूर नर्क में था ना। हर एक मनुष्य नर्क में है। अभी बाप तुमको बेहद का राज्य देते हैं। वहाँ तो सब कुछ तुम्हारा रहेगा। तुम्हारी पृथ्वी, तुम्हारा आकाश…… तुम अटल, अखण्ड, शान्तिमय राज्य करेंगे। दु:ख का नाम ही नहीं होगा। तो उसके लिए कितना पुरुषार्थ करना चाहिए। अवस्थायें बच्चों की कैसी हैं। जानते भी हैं हमारे मम्मा बाबा बहुत अच्छी रीति पुरुषार्थ करते हैं, क्यों नहीं हम भी पुरुषार्थ कर वर्सा लेवें।

बाप कहते हैं – बच्चे, थक मत जाना, श्रीमत पर चलते रहना। श्रीमत को कभी भूलना नहीं। इसमें बड़ी सावधानी चाहिए। जो कुछ करो, पूछो – बाबा हम इसमें मूँझते हैं, इसे करने में हमारे ऊपर कोई पाप तो नहीं लगेगा। बाबा कभी कोई से लेता नहीं है। भक्तिमार्ग में भी ईश्वर अर्थ दान करते हैं तो रिटर्न में फिर लेते हैं। शिवबाबा लेकर क्या करेंगे उनको कोई महल तो नहीं बनाने हैं। सब कुछ बच्चों के लिए करते हैं। मकान बनवाते हैं वह भी तुम्हारे पिछाड़ी में रहने लिए। तुम्हारा यादगार मन्दिर भी यहाँ है। तुम भी यहाँ बैठे हो। जो सर्विसएबुल बच्चे हैं वह आगे चल बहुत रौनक देखेंगे। यहाँ बैठे-बैठे चक्र लगाते रहेंगे स्वर्ग में। फिर वहाँ जाकर महल बनायेंगे। मकान की काम्पीटीशन होती है ना। अभी 100 वर्ष में कितना बनाया है। भारत को जैसे बहिश्त बना दिया है। तो वहाँ 100 वर्ष में समझते हो क्या नहीं होगा। साइंस सारी तुमको वहाँ काम में आती है। साइंस का सुख ही वहाँ है। यहाँ तो दु:ख है। साइंस पर कितनी मेहनत करते हैं। तुम बच्चे समझते हो कि यह सिर्फ फाफा मार रहे हैं (अपनी बड़ाई कर रहे हैं), अल्पकाल क्षणभंगुर सुख है, यह माया का पिछाड़ी का पाम्प है। यह एरोप्लेन, रॉकेट आदि में अभी जाते हैं। आगे यह सब साधन थे नहीं। बिजली आदि भी नहीं थी। यह सब है माया का सुख, जो मनुष्य को भरमाता है। मनुष्य समझते हैं – बस, यही स्वर्ग है। विमान आदि स्वर्ग में थे, अभी स्वर्ग है ना। यह नहीं समझते कि स्वर्ग के लिए तो अब तैयारी हो रही है। समझते हैं धन है, महल हैं बस, हमारे लिए यहाँ ही स्वर्ग है। अच्छा, तुम्हारी तकदीर में यहीं स्वर्ग है। हमको तो मेहनत कर सच्चे-सच्चे स्वर्ग में चलना है, जिसके लिए तुम पुरुषार्थ करते हो। पुरुषार्थ में ढीला नहीं पड़ना है। गृहस्थ व्यवहार में रह पुरुषार्थ करना है। सर्विस करनी है। खुद पवित्र बन फिर अपने मित्र-सम्बन्धियों आदि को भी लायक बनाओ, मीठी-मीठी बातें सुनाओ। बाबा ने दो बाप की प्वाइन्ट बहुत अच्छी रीति समझाई है। वर्सा बाप से मिलता है जायदाद का। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) पुरुषार्थ में कभी भी थकना नहीं है। बड़ी सावधानी से श्रीमत पर चलते रहना है। मूँझना नहीं है।

2) कोई भी पाप कर्म नहीं करना है। सच्चे-सच्चे स्वर्ग में चलने लिए पवित्र बनने और बनाने की सेवा करनी है।

वरदान:- अनासक्त बन लौकिक को सन्तुष्ट करते भी ईश्वरीय कमाई जमा करने वाले राज़युक्त भव
कई बच्चे लौकिक कार्य, लौकिक प्रवृत्ति, लौकिक सम्बन्ध-सम्पर्क निभाते हुए अपनी विशाल बुद्धि से सबको सन्तुष्ट भी करते और ईश्वरीय कमाई का राज़ जानते हुए विशेष हिस्सा भी निकाल लेते। ऐसे एकनामी और एकानामी वाले अनासक्त बच्चे हैं जो सर्व खजानें, समय, शक्तियां और स्थूल धन को लौकिक से एकानामी कर अलौकिक कार्य में फ्राकदिली से लगाते हैं। ऐसे युक्तियुक्त, राज़युक्त बच्चे ही महिमा योग्य हैं।
स्लोगन:- स्मृति स्वरूप बनकर हर कर्म करने वाले ही प्रकाश स्तम्भ (लाइट हाउस) बनते हैं।

TODAY MURLI 13 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

13/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father, the Innocent Lord, is the only One who fills your aprons with jewels of knowledge. He alone is the Seed of the kalpa tree. He cannot be compared to anyone else.
Question: How and why do many children try to deceive the Father?
Answer: Because of not recognising the Father accurately, they make mistakes and then hide them. They don’t tell Baba the truth. They secretly sit in the gathering. They don’t realize that Dharamraj Baba knows everything. To tell the true Baba the truth is also a way to reduce punishment.
Song: No one is unique like the Innocent Lord.

Om shanti. You children have understood that Shiva is always called, the Innocent Lord, Shiva, the Innocent Treasurer. Shankar cannot be called the Innocent Lord nor can anyone else be called the Ocean of Knowledge. The Father says: I alone come and give you children knowledge of the beginning, the middle and the end. So, there is only the One who is the Ocean of Knowledge. It is neither Shankar nor avyakt Brahma. Avyakt Brahma resides in the subtle region. Many are confused about why Dada is called God Brahma. However, even avyakt Brahma cannot be called God. The Father now explains: I alone am your parlokik Father. Parlok (the world beyond) is neither heaven nor hell. Parlok, where souls reside, is the land that is completely beyond everything. Why that One is called the supremely beloved, parlokik Supreme Soul is because He resides in parlok. When people on the path of devotion pray to God, they definitely raise their eyes upwards. The Father explains: I am the Seed of the whole kalpa tree. No one, apart from Shiva, can be called the Creator. He alone is the Creatorand all the rest are His creation. It is the Creator who gives the inheritance to His creation. Everyone says that God or Khuda created them. So, everyone would call that God ‘Father . They would not call Gandhi the Father. The unlimited Father, the Creator, is only the One. He Himself explains: I am your parlokik Supreme Father. All souls are the same; they are neither smaller nor larger. There are the Sun of Knowledge, the moon of knowledge and the stars of knowledge. There is a difference between the size s of the physical sun and moon, but the size of all souls is the same. Baba says: I am no bigger in size but, because I reside in the supreme abode, I am called the Supreme Soul. The Supreme Soul has all the knowledge. He says: Just as I am bodiless, in the same way, you souls also reside bodiless in the supreme abode for a short while. However, you stay on the stage for a longer time. Just as you souls are like stars, I too am the same. If I were any bigger, I wouldn’t fit in this body. Just as all souls come here to play their part s, I too come in the same way. Baba’s part begins when the path of devotion begins. He doesn’t have a part in the golden or silver age. He Himself has now come to give us our full inheritance. He raises us up a few steps even higher than Himself. He makes us into the masters of both Brahmand and the world. It is the duty of every father to make his children worthy. Parents serve their children so much. When parents have seven children and some become doctorsengineers, lawyers etc., the parents can’t contain their happiness. People would praise the father for how he educated the children and made them worthy. However, not all can be the same. Some become one thing and others become something else. Baba says: I make you so worthy! Look what that Baba is like! He doesn’t have a physical name or form. He enters the body of someone else and teaches us. This study place exists identically as it did in the previous cycle. Therefore, the God of the Gita definitely created the Gita pathshala where He fed everyone the grass of knowledge, the nectar of knowledge. Some speak of the cowshed of Krishna. Others speak of the cowshed of Brahma. However, it is just because Shiv Baba doesn’t have a body that they have mixed Him up with Brahma. There is no need for Krishna to graze cows. Krishna is not called the Purifier. Gandhiji would take up the Gita or chant the names of Sita Rama because he believed that God was in Rama, Krishna and in fish and alligators etc. Previously, we used to think in the same way. The locks on our intellects, too, were closed. The Father has now come and awakened us. He removes everyone from the graveyard and takes everyone back, like insects. Then they gradually come down at their own time. The Father explains: Remember Me alone. Even students remember their father and teacher. The Father is teaching you. He is also your Guru. There is the force of all three. In spite of that, you forget such a Father. There are children who call themselves full caste but who don’t remember the Father for even five minutes. This is why it is said: Oh Maya! I open the locks on the children and you then lock them again. If you indulge in vice even slightly, the locks on your intellects become locked. Nevertheless, telling the truth does reduce your punishment. If you voluntarily confess to the judge, the punishment would be reduced. Baba does the same thing. If someone does something bad and hides it, there is severe punishment for that. Therefore, you mustn’t hide anything from Dharamraj. There are many who indulge in vice and then come secretly and sit in the gathering. However, can they hide anything from Dharamraj? When they don’t have faith they try to deceive such a Father. They may deceive the corporeal one, but incorporeal Baba knows everything. He is the One who is giving you teachings through this body. Many people ask you how God enters the body of Dada. He was a householder; he had children etc. Why does God enter him? Why doesn’t God enter the body of a sage or holy man? However, God has to purify the impure. He is making worshippers worthy of worship. This is like turning a somersault. Brahmins become deities, then warriors, merchants and shudras etc. These clans are in Bharat. These clans don’t exist anywhere else. I have now spoken for 15 minutes. You can also explain in the same way. Baba tells you everything directly. You would say that Shiv Baba explains in this way. Also explain to them that Shiva is distinct from Shankar. You have to explain this very clearly. This is giving Baba’s introduction. The Government has the book ‘Who’s Who’printed. Similarly, who is who in the preordained drama? We would say that the Highest on High is Shiv Baba, then Brahma, Vishnu and Shankar, then Lakshmi and Narayan, then Rama and Sita and then the founders of religions. The world continues to become old in this way. You deities go onto the path of sin. The Father now comes and awakens you. He says: Surrender everything to Me and follow My directions. Shrimat is the directions He gives. Lakshmi and Narayan and Rama and Sita whom people remember went onto the path of sin. Who else could give shrimat? It is Baba who fulfils the desires of the devotees. Even though the devotion of some is for fish and alligators etc., I fulfil their desires. They have taken this to mean that God is in fish and alligators etc. Baba explains to you many secrets but those who understand it are numberwise and so their status is also numberwise. The deity kingdom, not a religion, is being established. Religions are established by those of other religions. Shiv Baba makes you into the kings of kings through Brahma. The meaning of ‘kings of kings’ has been explained to you. The kings who indulge in vice worship you. Therefore, you receive such a high status! You very much enjoy the sweet things that Baba tells you, but, as soon as you get up from here and drink tea, your intoxication decreases. By the time you reach your village, it has completely finished. Here, it is as though you are sitting in Shiv Baba’s home. There is a lot of difference there. When someone’s husband goes abroad, she sheds tears. He doesn’t give real happiness; this Baba gives you so much happiness. Therefore, when you have to leave Him you cry. Many say that they just want to stay here. So, where would your children etc. go? They say: You look after them! How many people’s children would I look after? However, wait, become serviceable and arrangements will be made for your children. In the beginning, there were very few and so Baba looked after their children. However, there are now so many of their children to look after. Then, if one of them were lost, they would blame Baba for losing their child. The one who was appointed to look after children would also ask: Why should I look after the karmic bondages of someone else? OK, just look after the one Child Shiva and He will look after your children. However, you must never divorce Baba. Many children have divorced Baba in this way; they are called incarnations of fools. Even if you sulk with some Brahma Kumars and Kumaris, you must never sulk with Shiv Baba. He has come to give you your fortune of the kingdom. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Surrender everything you have to the Father and follow shrimat fully. Do not perform any bad action and then hide it. By telling the truth to the judge, your punishment is reduced.
  2. Never sulk with the Father. Become serviceable. You yourself have to cut your bondages of karma.
Blessing: May you be an embodiment of awareness and power and experience transformation, happiness and lightness by having powerful remembrance.
Powerful remembrance gives you double the experience at the same time. On the one hand, remembrance becomes a fire and does the work of burning everything and transforming everything and, on the other hand, it also gives the experience of happiness and lightness. Only such powerful remembrance performed in the right way is called accurate remembrance. The children who are embodiments of awareness and have such accurate remembrance are powerful. This awareness and power enables you to claim a right to a number one prize.
Slogan: Someone whose heart is strong and mature is said to be experienced.

*** Om Shanti ***

Invaluable versions of Mateshwari

The time of God’s predestined programme o f com ing .

People sing the song, “O God of the Gita, come to fulfil Your promise.” Now, the God of the Gita has come Himself to fulfil His promise of the previous cycle and He says: O children, when there is extreme defamation of religion in Bharat, it is definitely at that time that I come to fulfil the promise I made. My coming does not mean that I come in every age. Defamation of religion does not take place in all ages. Defamation of religion only takes place in the iron age. Therefore, you have to understand that God comes at the time of the iron age. The iron age comes every cycle and you have to understand that I come every cycle. There are four ages in a cycle; this is known as the kalpa. For half the cycle, in the golden and silver ages, it is satoguni and satopradhan; there is no need for God to come then. Then, from the third age, the copper age, it is the beginning of all other religions. At that time too, there isn’t extreme defamation of religion. This proves that God does not come in those three ages. There remains the iron age and extreme defamation of religion takes place at the end of this age. God comes at this time, destroys irreligiousness and establishes the religion of truth. If He had come in the copper age, then, after the copper age, there should have been the golden age. So, why is it the iron age now? It wouldn’t be said that God came and established the extreme iron age. This cannot be the case and this is why God says: I am the One and I only come once, to destroy irreligiousness and the iron age and establish the golden age. So, the time of My coming is the confluence age.

2) It is God who creates kismet (fortune) and human being s themselves who spoil their kismet (fortune).

We know who it is that creates the fortune of human souls and who spoils their fortune. We would not say that it is God Himself who creates fortune and who also spoils our fortune. Definitely, it is God who creates our fortune and human beings themselves who spoil their fortune. How can this fortune be created? And how did we fall down? All of this is explained. When people know themselves and become pure, they then once again create the fortune they had spoilt. When we speak of the fortune that is spoilt, it proves that our fortune was created at some time and that it has now become spoilt. So, God Himself comes and makes our fortune that had been spoilt. Some say that God Himself is incorporeal, and so how can He create our fortune? It is explained as to how incorporeal God comes and, through the physical body of Brahma, gives imperishable knowledge, creates our fortune which had been spoilt. It is God’s duty to give us this knowledge. However, human beings cannot awaken the fortune of one another. It is God alone who awakens everyone’s fortune and this is why the temple of His memorial is there for all time. Achcha.

 

[wp_ad_camp_5]

 

BRAHMA KUMARIS MURLI 13 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

13/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – भोलानाथ बाप एक है जो तुम्हारी झोली ज्ञान रत्नों से भरते हैं, वही कल्प वृक्ष का बीजरूप है, उनकी भेंट और किससे कर नहीं सकते”
प्रश्नः- बहुत बच्चे बाप को भी ठगने की कोशिश करते हैं, कैसे और क्यों?
उत्तर:- बाप को यथार्थ न पहचानने के कारण भूल करके भी छिपाते हैं, सच नहीं बताते हैं, सभा में छिपकर बैठ जाते हैं। उन्हें पता ही नहीं कि धर्मराज बाबा सब कुछ जानता है। यह भी सजाओं को कम करने की युक्ति है कि सच्चे बाबा को सच सुनाओ।
गीत:- भोलेनाथ से निराला….

ओम् शान्ति। बच्चे समझ गये हैं कि भोलानाथ सदा शिव को कहा जाता है। शिव भोला भण्डारी। शंकर को भोलानाथ नहीं कहेंगे। न और कोई को ज्ञान सागर कह सकते हैं। बाप कहते हैं मैं ही आकर बच्चों को आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज अथवा ज्ञान सुनाता हूँ। तो एक ही ज्ञान का सागर ठहरा, न शंकर, न अव्यक्त ब्रह्मा। अव्यक्त ब्रह्मा तो सूक्ष्मवतन में रहता है। बहुत इस बात में मूंझते हैं कि दादा को भगवान ब्रह्मा क्यों कहते हैं? लेकिन अव्यक्त ब्रह्मा को भी भगवान नहीं कह सकते। अब बाप समझाते हैं कि मैं ही तुम्हारा पारलौकिक पिता हूँ। परलोक न स्वर्ग को, न नर्क को कहेंगे। परलोक है परे ते परे लोक, जहाँ आत्मायें निवास करती हैं इसलिए उनको कहते हैं परमप्रिय पारलौकिक परमपिता क्योंकि वह परलोक में रहने वाले हैं। भक्तिमार्ग वाले भी प्रार्थना करेंगे तो ऑखे ऊपर जरूर जायेंगी। तो बाप समझाते हैं कि मैं सारे कल्प वृक्ष का बीजरूप हूँ। एक शिव के सिवाय किसको भी क्रियेटर नहीं कह सकते। वही एक क्रियेटर है बाकी सब उनकी क्रियेशन हैं। अब क्रियेटर ही क्रियेशन को वर्सा देते हैं। सब कहते हैं हमको ईश्वर ने अथवा खुदा ने पैदा किया है। तो उस एक ईश्वर को सब फादर कहेंगे। गाँधी को तो फादर नहीं कहेंगे। बेहद का रचता बाप एक ही है। वही समझाते हैं कि मैं तुम्हारा पारलौकिक परमपिता हूँ। बाकी आत्मायें तो सब एक जैसी हैं, कोई बड़ी छोटी नहीं होती। जैसे ज्ञान सूर्य, ज्ञान चन्द्रमा, ज्ञान सितारे.. तो उस सूर्य चांद की साइज़ में तो फर्क है लेकिन आत्माओं का साइज़ एक जैसे है। बाबा कहते हैं मैं कोई साइज़ में बड़ा नहीं हूँ लेकिन परमधाम का रहने वाला हूँ इसलिए मुझे परम आत्मा कहते हैं। परमात्मा में ही सारा ज्ञान है। वह कहते हैं जैसे मैं अशरीरी हूँ वैसे आत्मा भी कुछ समय परमधाम में अशरीरी रहती है। बाकी स्टेज पर जास्ती समय रहती है। तो जैसे तुम आत्मा सितारे सदृश्य हो वैसे मैं भी हूँ। अगर मैं बड़ा होता तो इस शरीर में फिट नहीं होता। जैसे और सभी आत्मायें पार्ट बजाने आती हैं, वैसे मैं भी आता हूँ। बाबा का भक्तिमार्ग से पार्ट शुरू होता है। सतयुग त्रेता में तो पार्ट ही नहीं। अब खुद आकर हमको पूरा वर्सा देते हैं। अपने से भी दो रत्ती ऊपर ले जाते हैं। हमको ब्रह्माण्ड और सृष्टि दोनों का मालिक बनाते हैं। यह तो हर एक बाप का फ़र्ज होता है बच्चों को लायक बनाना, कितनी सेवा करते हैं। कोई के 7 बच्चे होते हैं, कोई डाक्टर, इन्जीनियर, वकील बनता है तो बाप फूला नहीं समाता। लोग भी उनकी सराहना करते हैं कि बाप ने सब बच्चों को पढ़ाकर लायक बनाया है। परन्तु सब एक जैसे तो नहीं बनते। कोई क्या बनता, कोई क्या। वैसे बाबा कहते हैं मैं तुमको कितना लायक बनाता हूँ। यह बाबा देखो कैसा है! इसका स्थूल नाम रूप कोई है नहीं। दूसरे के तन में प्रवेश कर पढ़ाते हैं। यह हूबहू कल्प पहले वाली पाठशाला है, तो जरूर गीता के भगवान ने गीता पाठशाला बनाई है। जहाँ सबको ज्ञान घास, ज्ञान अमृत खिलाया है। कोई कहते कृष्ण की गऊशाला, कोई कहते ब्रह्मा की। लेकिन है क्या, जो शिवबाबा को शरीर न होने कारण ब्रह्मा से मिला दिया है। बाकी कृष्ण को तो गऊ पालने की दरकार नहीं। कृष्ण को पतित-पावन नहीं कहते। गाँधी भी गीता को उठाए मुख से सीताराम उच्चारते रहते थे क्योंकि वह राम, कृष्ण, कच्छ-मच्छ सबमें भगवान मानते हैं। पहले हम भी ऐसे समझते थे। हमारा भी बुद्धि का ताला बन्द था। अब बाप ने आकर जगाया। सभी को कब्र से निकाल वापिस ले जाते हैं, मच्छरों के सदृश्य। फिर उतरते धीरे-धीरे अपने समय पर हैं।

तुमको बाप समझाते हैं कि मुझ एक को याद करो। स्टूडेन्ट को भी बाप टीचर याद रहता है। तुमको तो बाप पढ़ाते हैं। यही तुम्हारा गुरू भी है। तीनों का ही फोर्स है। फिर भी ऐसे बाप को भूल जाते हो! ऐसे भी (फुलकास्ट कहलाने वाले) बच्चे हैं – जो 5 मिनट भी याद नहीं करते हैं। तब कहते हैं अहो मम माया मैं बच्चों का ताला खोलता हूँ, तुम बंद कर देती हो। जरा भी विकार में गया तो बुद्धि का ताला लाकप हो जाता है। फिर भी सच सुनाने से सज़ा कम हो जाती है। अगर आपेही जाकर जज को अपना दोष बताये तो कम सजा देंगे। बाबा भी ऐसे करते हैं, अगर कोई बुरा काम कर छिपाता है तो उसको कड़ी सजा मिलती है। तो धर्मराज से कुछ छिपाना नहीं चाहिए। ऐसे बहुत हैं जो विकार में जाकर फिर छिपकर सभा में बैठ जाते हैं लेकिन धर्मराज से क्या छिपा सकते हैं? निश्चय नहीं है तो ऐसे बाप को भी ठगने की कोशिश करते हैं। लेकिन साकार को भल ठग लें, निराकार बाबा तो सब जानते हैं, तुम्हें इस तन से शिक्षा भी वही दे रहे हैं। तुमसे बहुत पूछते हैं कि दादा के तन में परमात्मा कैसे आते हैं? यह तो गृहस्थी था। बाल बच्चे थे, इसमें कैसे आते हैं, क्यों नहीं कोई साधू सन्त के तन में आते हैं? लेकिन परमात्मा को तो पतितों को पावन बनाना है। जो पुजारी से पूज्य बना रहे हैं, ये भी जैसे बाजोली खेलते हैं। ब्राह्मण ही देवता फिर क्षत्रिय, वैश्य…. यह वर्ण भी भारत में हैं। और कहाँ वर्ण नहीं। अब मैने 15 मिनट भाषण किया। ऐसे तुम भी समझा सकते हो। बाबा करके डायरेक्ट बात करते हैं। तुम कहेंगे शिवबाबा ऐसे समझाते हैं शिव अलग है, शंकर अलग है – यह भी साफ-साफ समझाना है। यह है बाबा का परिचय देना। जब गर्वमेन्ट का किताब निकलता है – हू इज हू। वैसे ही हू इज हू प्रीआर्डीनेट ड्रामा। हम कहेंगे ऊंचे ते ऊंचा शिवबाबा फिर ब्रह्मा, विष्णु, शंकर फिर लक्ष्मी-नारायण, राम-सीता फिर धर्म स्थापन करने वाले। इस रीति दुनिया पुरानी होती जाती है। तुम देवतायें वाममार्ग में चले जाते हो। अब बाप आकर जगाते हैं कहते हैं सब मेरे हवाले कर दो और मेरी मत पर चलो। श्रीमत तो उनकी कहेंगे।

बाकी लक्ष्मी-नारायण, सीता-राम, जिनको याद करते वह सब वाममार्ग में चले गये और कौन श्रीमत दे सकता है। भक्तों की मनोकामना भी बाबा ही पूरी करते, भल कोई कच्छ-मच्छ में भावना रखे तो उनकी भी भावना मैं पूरी करता हूँ। उसका अर्थ यह निकाला है कि कच्छ-मच्छ सबमें भगवान है। बाबा बहुत राज़ समझाते हैं। लेकिन समझने वाले नम्बरवार हैं तो पद भी नम्बरवार हैं। ये डीटी किंगडम स्थापन हो रही है, धर्म नहीं। धर्म तो दूसरे धर्म वाले स्थापन करते हैं। शिवबाबा तो ब्रह्मा द्वारा राजाओं का राजा बनाते हैं। राजाओं का राजा का अर्थ भी तुमको समझाया है। तुमको विकारी राजायें पूजते हैं, तो कितना बड़ा पद तुमको मिलता है। बाबा की मीठी-मीठी बातें तुमको बहुत अच्छी लगती हैं परन्तु फिर उठकर चाय पी तो नशा कम हो जाता है। गांव में गये तो एकदम उतर जाता है। यहाँ तो जैसे तुम शिवबाबा के घर में बैठे हो। वहाँ बहुत फ़र्क पड़ जाता है। जैसे पति जब परदेश जाते हैं तो पत्नि ऑसू बहाती है। वह तो कोई सुख देते नहीं, यह बाबा तो तुम्हें कितना सुख देते हैं, तो इनको छोड़ने में भी रोना आता है! बहुत कहते हैं हम यहाँ ही बैठ जायें। फिर आपके बाल बच्चे कहाँ जायेंगे? कहते हैं आप सम्भालो। हम कितनों के बच्चे सम्भालेंगे! लेकिन ठहरो, सर्विसएबुल बनो तो तुम्हारे बच्चों का भी प्रबन्ध हो जायेगा। शुरू में थोड़े थे तो उनके बच्चे सम्भाले, अब कितने हैं। उन्हों के बच्चे बैठ सम्भालें, उनसे कोई गुम हो जाये तो कहेंगे हमारा बच्चा गुम कर दिया। जिसको सम्भालने रखें – वह भी कहेंगे हम औरों का कर्मबंधन क्यों सम्भालें। अच्छा फिर तो एक ही शिव बच्चे को सम्भालो तो वह तुम्हारे बच्चे सम्भालेंगे। बाकी ऐसे बाबा को कभी फारकती मत देना। ऐसे बहुतों ने फारकती दी है। उन्हों को मूर्खों के अवतार कहें। भल कोई ब्रह्माकुमार कुमारी से रूठ जाओ लेकिन शिवबाबा से कभी नहीं रूठना। वह तो तुमको राज्य-भाग्य देने आया है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपना सब कुछ बाप हवाले कर पूरा श्रीमत पर चलना है। कोई भी बुरा काम करके छिपाना नहीं है, जज को सच बताने से सजा कम हो जायेगी।

2) बाप से कभी रूठना नहीं है, सर्विसएबुल बनना है। अपने कर्मबन्धन स्वयं कांटने हैं।

वरदान:- शक्तिशाली याद द्वारा परिवर्तन, खुशी और हल्के पन की अनुभूति करने वाले स्मृति सो समर्थ स्वरूप भव 
शक्तिशाली याद एक समय पर डबल अनुभव कराती है। एक तरफ याद अग्नि बन भस्म करने का काम करती है, परिवर्तन करने का काम करती है और दूसरे तरफ खुशी व हल्के पन का अनुभव कराती है। ऐसे विधिपूर्वक शक्तिशाली याद को ही यथार्थ याद कहा जाता है। ऐसी यथार्थ याद में रहने वाले स्मृति स्वरूप बच्चे ही समर्थ हैं। यह स्मृति सो समर्थी ही नम्बरवन प्राइज का अधिकारी बना देती है।
स्लोगन:- अनुभवी वह है जिसकी दिल मजबूत और बुजुर्ग है।

मातेश्वरी जी के अनमोल महावाक्य

1) ‘भगवान के आने का अनादि रचा हुआ प्रोग्राम’

यह जो मनुष्य गीत गाते हैं ओ गीता के भगवान अपना वचन निभाने आ जाओ। अब वो स्वयं गीता का भगवान अपना कल्प पहले वाला वचन पालन करने के लिये आया है और कहते हैं हे बच्चे, जब भारत पर अति धर्म ग्लानि होती है तब मैं इसी समय अपना अन्जाम पालन करने (वायदा निभाने) के लिये अवश्य आता हूँ, अब मेरे आने का यह मतलब नहीं कि मैं कोई युगे युगे आता हूँ। सभी युगों में तो कोई धर्म ग्लानि नहीं होती, धर्म ग्लानि होती ही है कलियुग में, तो मानो परमात्मा कलियुग के समय आता है। और कलियुग फिर कल्प कल्प आता है तो मानो मैं कल्प कल्प आता हूँ। कल्प में फिर चार युग हैं, इसको ही कल्प कहते हैं। आधाकल्प सतयुग त्रेता में सतोगुण सतोप्रधान है, वहाँ परमात्मा के आने की कोई जरुरत नहीं। और फिर तीसरा द्वापर युग से तो फिर दूसरे धर्मों की शुरुआत है, उस समय भी अति धर्म ग्लानि नहीं है इससे सिद्ध है कि परमात्मा तीनों युगों में तो आता ही नहीं है, बाकी रहा कलियुग, उसके अन्त में अति धर्म ग्लानि होती है। उसी समय परमात्मा आए अधर्म विनाश कर सत् धर्म की स्थापना करता है। अगर द्वापर में आया हुआ होता तो फिर द्वापर के बाद तो अब सतयुग होना चाहिए फिर कलियुग क्यों? ऐसे तो नहीं कहेंगे परमात्मा ने घोर कलियुग की स्थापना की, अब यह तो बात नहीं हो सकती इसलिए परमात्मा कहता है मैं एक हूँ और एक ही बार आए अधर्म का विनाश कऱ कलियुग का विनाश कर सतयुग की स्थापना करता हूँ तो मेरे आने का समय संगमयुग है।

2) ‘किस्मत बनाने वाला परमात्मा किस्मत बिगाड़ने वाला खुद मनुष्य है’

अब यह तो हम जानते हैं कि मनुष्य आत्मा की किस्मत बनाने वाला कौन है? और किस्मत बिगाड़ने वाला कौन है? हम ऐसे नहीं कहेंगे कि किस्मत बनाने वाला, बिगाड़ने वाला वही परमात्मा है। बाकी यह जरैर है कि किस्मत को बनाने वाला परमात्मा है और किस्मत को बिगाड़ने वाला खुद मनुष्य है। अब यह किस्मत बने कैसे? और फिर गिरे कैसे? इस पर समझाया जाता है। मनुष्य जब अपने को जानते हैं और पवित्र बनते हैं तो फिर से वो बिगड़ी हुई तकदीर को बना लेते हैं। अब जब हम बिगड़ी हुई तकदीर कहते हैं तो इससे साबित है कोई समय अपनी तकदीर बनी हुई थी, जो फिर बिगड़ गई है। अब वही फिर बिगड़ी तकदीर को परमात्मा खुद आकर बनाते हैं। अब कोई कहे परमात्मा खुद तो निराकार है वो तकदीर को कैसे बनायेगा? इस पर समझाया जाता है, निराकार परमात्मा कैसे अपने साकार ब्रह्मा तन द्वारा, अविनाशी नॉलेज द्वारा हमारी बिगड़ी हुई तकदीर को बनाते हैं। अब यह नॉलेज देना परमात्मा का काम है, बाकी मनुष्य आत्मायें एक दो की तकदीर को नहीं जगा सकती हैं। तकदीर को जगाने वाला एक ही परमात्मा है तभी तो उन्हों का यादगार मन्दिर कायम है। अच्छा। ओम् शान्ति।

 

[wp_ad_camp_5]

 

Font Resize