13 july ki murli

TODAY MURLI 13 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 13 July 2020

13/07/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, give everyone the good news that peace is once again being established in the world. The Father has come to establish the one original eternal deity religion.
Question: Why are you children repeatedly given the signal to stay in remembrance?
Answer: Because it is only by having remembrance that you become everhealthy and ever pure. This is why, whenever you have time, stay in remembrance. Early in the morning, after bathing etc., go for a walk or sit in solitude. Here, there is nothing but income. It is by having remembrance that you will become the masters of the world.

Om shanti. You sweet children know that, at this time, everyone in the world wants peace. You continually hear the sound of people asking how there can be peace in the world. However, no one knows when there was the peace in the world that they now want. Only you children know that there was peace in the world when it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. Even now, people continue to build temples to Lakshmi and Narayan. You can tell anyone that there was peace in the world 5000 years ago, and that it is now being established once again. Who is establishing it? Human beings don’t know this. The Father has explained everything to you children. Therefore, you can explain this to anyone. You can write to them. However, as yet, no one has had the courage to write to anyone. You hear from the papers that everyone wants peace in the world. When a war takes place, people have a sacrificial fire for there to be peace in the world. Which sacrificial fire? They create a sacrificial fire of Rudra. You children now know that the Father, who is called Rudra Shiva, has created this sacrificial fire of knowledge. Peace is now being established in the world. There must definitely have been rulers of the golden-aged new world where there was peace. You would not say that there should be peace in the incorporeal world; it is peaceful there anyway. The world is where human beings reside. The incorporeal world cannot be called the world. That is the abode of peace. Baba explains this again and again. Nevertheless, some children forget and some are able to keep it in their intellects and are thereby able to explain to others. It is very easy to explain to someone how there was peace in the world and how it is now being established once again. When it was the kingdom of the original eternal religion of the deities in Bharat, there was only that one religion. There used to be peace in the world. This is a very easy thing to explain and write about. You can even write to those who build huge temples: There used to be peace in the world 5000 years ago when it became the kingdom of those to whom you build temples. It used to be their kingdom in Bharat. There were no other religions then. This is very easy and it is a question of common sense. According to the drama, everything will be understood as you progress further. You can give this good news to everyone. Also print it on beautiful cards. There was peace in the world 5000 years ago. When it was the new world and new Bharat, it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. Peace is once again being established in the world. Just by remembering these aspects, you children should remain very happy. You know that it is only by remembering the Father that you can become the masters of the world. Everything depends on the effort you children make. Baba has explained that you should stay in remembrance of Baba whenever you have time. Early in the morning, after bathing, go for a walk in solitude or sit down somewhere. Here, you just have to earn an income. This remembrance is for becoming ever pure and everhealthy. Although the sannyasis here are pure, some definitely fall ill. This is the world of disease. That is the world free from disease. Only you know this. How can anyone in the world know that everyone in heaven is free from disease? No one knows what heaven is. You now know this. Baba says: You can explain to whomever you meet. For instance, someone here may be called a king or queen, but no one here is really a king or queen. Tell them: You are not a king or queen now. This has to be removed from their intellects. The kingdom of Emperor Shri Narayan and Empress Shri Lakshmi is now being established. Therefore, there surely wouldn’t be any kings or queens here. They were told to forget that they were kings and queens, and that they should continue to act like ordinary human beings. They also have money and gold etc. Laws are now being passed for everything to be taken from them. They will then become like common human beings. These tactics are being created. It is remembered: Some people’s wealth remained buried underground and some people’s wealth was looted by the kings. Kings do not loot from anyone now. There are no kings anyway. It is people who loot from other people. Today’s kingdom is so wonderful! When the names of kings have completely disappeared, the kingdom is then re-established. You now understand that you are going to a place where there is peace in the world. That is the land of happiness, the satopradhan world. We are making effort to go there. You children should sit here and explain with splendour. There shouldn’t just be artificial, external splendour. Nowadays, there are many who are artificial. Here, you have to become true, firm Brahma Kumars and Kumaris. You Brahmins are carrying out the task of establishing peace in the world with Father Brahma. Very peaceful and also very sweet children are needed to establish such peace, because you know that you have become instruments to establish peace in the world. So, first of all, we need to have a great deal of peace. You also have to converse very softly and with great royalty. You are totally incognito. Your intellects are filled with the treasures of the imperishable jewels of knowledge. You are the Father’s heirs. You have to fill yourselves with as many treasures as the Father has. All of His property is yours. However, when you don’t have enough courage, you are unable to take it. Only those who take it will claim a high status. You should be keen to explain to others. We have to make Bharat into heaven once again. While carrying out your business etc., you also have to do this service. This is why Baba is telling us to hurry up. In spite of that, everything happens according to the drama. Each one does everything according to his own time. You children are being inspired to make effort. You children have the faith that very little time now remains. This is our final birth and we will then be in heaven. This is the land of sorrow and it will then become the land of happiness. Of course, it will take time to become that. This destruction is not a small one. When a new home is being built, one only remembers the new home. That is a limited aspect. Relationships etc. don’t change in that. Here, the old world has to change. Then, those who have studied well will go into the royal family. Otherwise, they will become subjects. You children should have great happiness. Baba has explained that you experience happiness for 50 to 60 births. You also have a great deal of wealth in the copper age. Sorrow comes later. It is when the kings start to fight amongst themselves and split up that sorrow begins. Grain is still very cheap at first; famine comes later on. You have a great deal of wealth. From being satopradhan, you gradually become tamopradhan. Therefore, you children should have a lot of internal happiness. If you yourselves don’t have peace and happiness, how are you going to establish peace in the world? The intellects of many are peaceless. The Father comes to give the blessing of peace. He says: Remember Me. Then, with the power of this remembrance, souls that have been peaceless by becoming tamopradhan will become satopradhan and peaceful. However, some children are unable to make effort to have remembrance. Because they don’t stay in remembrance, Maya brings many storms. If you don’t stay in remembrance and become completely pure, there will have to be punishment and the status will be destroyed. Don’t think that you will go to heaven anyway. Oh! is it good to experience a pennyworth of happiness after being beaten? People make so much effort to claim a high status. You should not think that you will be content with whatever you receive. There isn’t anyone who would not make some effort. Even fakirs (religious beggars) go begging to collect money. Everyone is hungry for money. With money, you can have every type of happiness. You children know that you are receiving limitless wealth from Baba. If you make less effort, you receive less wealth. The Father gives you wealth. People say: If I had wealth, I would travel to America etc. The more you remember the Father and do service, the more happiness you will receive. A father inspires his children to make effort in every respect and become elevated. He believes that his children will glorify the name of his family. You children have to glorify the name of God’s family and also the Father’s name. That One is the true Father, the true Teacher and the true Satguru. The Father is the Highest on High and He is also the true Satguru. You have been told that there is only one Guru and none other. The Bestower of Salvation for all is only One. Only you know this. You are now becoming those with divine intellects. You are becoming divine kings and queens of the land of divinity. It is such an easy matter to explain that Bharat was golden aged. Using the picture of Lakshmi and Narayan, you can explain how there used to be peace in the world. There used to be peace in heaven. It is now hell and there is peacelessness. This Lakshmi and Narayan reside in heaven. Krishna is called Lord Krishna. He is also called God Krishna. There are many lords. Even those who own a lot of land are called landlords. Krishna was a prince of the world when there was peace in the world. No one knows that Radhe and Krishna became Lakshmi and Narayan. So many stories have been made up about you. They cause so much upheaval. They say that you make everyone into brothers and sisters. It has been explained that you Brahmins are the mouth-born children of Prajapita Brahma. It is of you that it is said: Salutations to the Brahmins who are to become deities. Worldly brahmins say namaste to you because you are true brothers and sisters; you remain pure. Therefore, why would they not respect those who are pure? When a kumari is pure, everyone bows down at her feet. Even a visitor from outside would bow down to a kumari. Why is there so much praise for kumaris at this time? Because you are Brahma Kumars and Kumaris and the majority of you is of kumaris. The Shiv Shakti Pandava Army has been remembered. There are males in this army too, but you are remembered because the majority of you is female. Those who study well become elevated. You now know the history and geography of the whole world. It is very easy to explain the cycle. Bharat was the land of divinity and it is now the land of stone. Therefore, everyone is a lord of stone. You children know the cycle of 84 births. You now have to return home. Therefore, you also have to remember the Father so that your sins can be cut away. However, some children are unable to make enough effort for remembrance because of their carelessness. They don’t wake up early in the morning. Even if they do wake up, they don’t enjoy it. They begin to feel sleepy and go back to sleep. They become hopeless. Baba says: Children, this is a battlefield. You mustn’t become hopeless in this. You have to gain victory over Maya with the power of remembrance. You have to make effort for this. There are many good children who don’t remember the Father accurately. By keeping a chart, you can tell how much profit and loss you have made. Some say: The chart has really worked wonders on my stage. Scarcely a few write such a chart. This takes great effort. In many centres, there are even some false ones who go and sit there; they continue to perform sinful acts. When they don’t follow the Father’s directions, a lot of damage is caused. Children can’t tell whether it is the incorporeal One speaking or the corporeal one speaking. It has been explained to you children many times that you must always consider it to be Shiv Baba who is giving you directions. Your intellects will then remain connected up above. Nowadays, for an engagement, they show a photograph. They even advertise for a partner by printing a photograph with the words, “Someone from a good home is required for so-and-so.” Look at what the condition of the world has become and what it is to become! You children know that there are many ideas and opinions. You Brahmins only have one direction: The direction to establish peace in the world. You are establishing peace in the world by following shrimat. Therefore, you children have to remain very peaceful. Those who do something receive the reward of it. Otherwise, there would be a great loss. There would be that loss for birth after birth. You children have been told to look at your profit and loss account. Check your chart to see whether you caused anyone sorrow. The Father says: At this time, every second of yours is most valuable. It is not a big thing to receive a little something after experiencing punishment. Your desire is to become very wealthy. Those who were at first worthy of worship have become worshippers. Only when they have so much wealth can they build the temple to Somnath and worship Him. This too is an account. Nevertheless, it is explained to you children: There is benefit for you when you keep a chartNote everything down. Continue to give everyone the message. Don’t just sit quietly. You can also explain on the trains and give them some literature. Tell them: This is something worth millions. When there was the kingdom of Lakshmi and Narayan in Bharat, there was peace in the world. The Father has now come once again to establish that kingdom. Remember the Father and you will be absolved of your sins and there will be peace in the world. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. We Brahmins are instruments to establish peace in the world so we have to remain very, very peaceful. We have to speak very softly and with great royalty.
  2. Renounce being careless and make effort for remembrance. Never become hopeless.
Blessing: May you be constantly victorious and carefree like Vishnu by making the snake of the vices your bed.
Vishnu portrayed on a bed of snakes is a memorial of the easy yogi life of you victorious children. Even the snake of vices is easily controlled with yoga. The children who attain victory over the snake of vices and make it a bed of comfort remain constantly happy and carefree like Vishnu. So, always keep this image in front of you of being a soul who has controlled the vices and who has all rights. You, a soul, are in a state of constant rest and are carefree.
Slogan: With the balance of being a child and a master, put your plans into a practical form.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 13 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

13-07-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – सभी को यह खुशखबरी सुनाओ कि अब फिर से विश्व में शान्ति स्थापन हो रही है, बाप आये हैं एक आदि सनातन देवी-देवता धर्म स्थापन करने”
प्रश्नः- तुम बच्चों को बार-बार याद में रहने का इशारा क्यों दिया जाता है?
उत्तर:- क्योंकि एवर हेल्दी और सदा पावन बनने के लिए है ही याद इसलिए जब भी टाइम मिले याद में रहो। सवेरे-सवेरे स्नान आदि कर फिर एकान्त में चक्र लगाओ या बैठ जाओ। यहाँ तो कमाई ही कमाई है। याद से ही विश्व के मालिक बन जायेंगे।

ओम् शान्ति। मीठे बच्चे जानते हैं कि इस समय सभी विश्व में शान्ति चाहते हैं। यह आवाज़ सुनते रहते हैं कि विश्व में शान्ति कैसे हो? परन्तु विश्व में शान्ति कब थी जो फिर अब चाहते हैं – यह कोई नहीं जानते। तुम बच्चे ही जानते हो विश्व में शान्ति थी जब इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। अभी तक भी लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर बनाते रहते हैं। तुम कोई को भी यह बता सकते हो विश्व में शान्ति 5 हज़ार वर्ष पहले थी, अब फिर से स्थापन हो रही है। कौन स्थापन करते हैं? यह मनुष्य नहीं जानते। तुम बच्चों को बाप ने समझाया है, तुम किसको भी समझा सकते हो। तुम लिख सकते हो। परन्तु अभी तक कोई को हिम्मत नहीं है जो किसको लिखे। अखबार में आवाज़ सुनते तो हैं – सब कहते हैं विश्व में शान्ति हो। लड़ाई आदि होगी तो मनुष्य विश्व में शान्ति के लिए यज्ञ रचेंगे। कौन-सा यज्ञ? रूद्र यज्ञ रचेंगे। अभी बच्चे जानते हैं इस समय बाप जिसको रूद्र शिव भी कहा जाता है, उसने ज्ञान यज्ञ रचा है। विश्व में शान्ति अब स्थापन हो रही है। सतयुग नई दुनिया में जहाँ शान्ति थी जरूर राज्य करने वाले भी होंगे। निराकारी दुनिया के लिए तो नहीं कहेंगे कि विश्व में शान्ति हो। वहाँ तो है ही शान्ति। विश्व मनुष्यों की होती है। निराकारी दुनिया को विश्व नहीं कहेंगे। वह है शान्तिधाम। बाबा बार-बार समझाते रहते हैं फिर भी कोई भूल जाते हैं, कोई-कोई की बुद्धि में है वह समझा सकते हैं। विश्व में शान्ति कैसे थी, अब फिर कैसे स्थापन हो रही है – यह किसको समझाना बहुत सहज है। भारत में जब आदि सनातन देवी-देवता धर्म का राज्य था तो एक ही धर्म था। विश्व में शान्ति थी, यह बड़ी सहज समझाने की और लिखने की बात है। बड़े-बड़े मन्दिर बनाने वालों को भी तुम लिख सकते हो – विश्व में शान्ति आज से 5 हज़ार वर्ष पहले थी, जब इनका राज्य था, जिनके ही तुम मन्दिर बनाते हो। भारत में ही इन्हों का राज्य था और कोई धर्म नहीं था। यह तो सहज है और सयानप की बात है। ड्रामा अनुसार आगे चल सब समझ जायेंगे। तुम यह खुशखबरी सबको सुना सकते हो, छपा भी सकते हो, ब्युटीफुल कार्ड पर। विश्व में शान्ति आज से 5 हज़ार वर्ष पहले थी, जब नई दुनिया नया भारत था। लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। अब फिर से विश्व में शान्ति स्थापन हो रही है। यह बातें सिमरण करने से भी तुम बच्चों को बड़ी खुशी होनी चाहिए। तुम जानते हो बाप को याद करने से ही हम विश्व के मालिक बनने वाले हैं। सारा मदार तुम बच्चों के पुरूषार्थ पर है। बाबा ने समझाया है जो भी टाइम मिले बाबा की याद में रहो। सवेरे में स्नान कर फिर एकान्त में चक्र लगाओ या बैठ जाओ। यहाँ तो कमाई ही कमाई करनी है। एवर हेल्दी और सदा पावन बनने के लिए ही याद है। यहाँ भल संन्यासी पवित्र हैं, तो भी बीमार जरूर होते हैं। यह है ही रोगी दुनिया। वह है निरोगी दुनिया। यह भी तुम जानते हो। दुनिया में किसको क्या पता कि स्वर्ग में सब निरोगी होते हैं। स्वर्ग किसको कहा जाता है, कोई को पता नहीं। तुम अभी जानते हो। बाबा कहते हैं – कोई भी मिले तुम समझा सकते हो। समझो कोई राजा-रानी अपने को कहलाते हैं। अब राजा-रानी तो कोई हैं नहीं। बोलो तुम अभी राजा-रानी तो हो नहीं। यह बुद्धि से भी निकालना पड़े। महाराजा-महारानी श्री लक्ष्मी-नारायण की राजधानी तो अब स्थापन हो रही है। तो जरूर यहाँ कोई भी राजा-रानी नहीं होने चाहिए। हम राजा-रानी हैं यह भी भूल जाओ। ऑर्डनरी मनुष्यों के मुआफिक चलो। इन्हों के पास भी पैसे सोना आदि रहता तो है ना। अभी कायदे पास हो रहे हैं, यह सब ले लेंगे। फिर कॉमन मनुष्यों के मुआफिक हो जायेंगे। यह भी युक्तियां रच रहे हैं। गायन भी है ना, किसकी दबी रहे धूल में, किसकी राजा खाए…. अब राजा कोई की खाते नहीं हैं। राजायें तो हैं नहीं। प्रजा ही प्रजा का खा रही है। आजकल का राज्य बड़ा वन्डरफुल है। जब बिल्कुल राजाओं का नाम निकल जाता है तो फिर राजधानी स्थापन होती है। अभी तुम जानते हो – हम वहाँ जा रहे हैं जहाँ विश्व में शान्ति होती है। है ही सुखधाम, सतोप्रधान दुनिया। हम वहाँ जाने के लिए पुरूषार्थ कर रहे हैं। बच्चियां भभके से बैठकर समझायें, बाहर का सिर्फ आर्टीफिशल भभका नहीं चाहिए। आजकल तो आर्टीफिशल भी बहुत निकले हैं ना। यहाँ तो पक्के ब्रह्माकुमार-कुमारियां चाहिए।

तुम ब्राह्मण ब्रह्मा बाप के साथ विश्व में शान्ति की स्थापना का कार्य कर रहे हो। ऐसे शान्ति स्थापन करने वाले बच्चे बहुत शान्तचित और बहुत मीठे चाहिए क्योंकि जानते हैं – हम निमित्त बने हैं विश्व में शान्ति स्थापन करने। तो पहले हमारे में बहुत शान्ति चाहिए। बातचीत भी बहुत आहिस्ते-आहिस्ते बड़ी रॉयल्टी से करनी है। तुम बिल्कुल गुप्त हो। तुम्हारी बुद्धि में अविनाशी ज्ञान रत्नों का खजाना भरा हुआ है। बाप के तुम वारिस हो ना। जितना बाप के पास खजाना है, तुमको भी पूरा भरना चाहिए। सारी मिलकियत आपकी है, परन्तु वह हिम्मत नहीं है तो ले नहीं सकते। लेने वाले ही ऊंच पद पायेंगे। कोई को समझाने का बड़ा शौक चाहिए। हमको भारत को फिर से स्वर्ग बनाना है। धंधा आदि करते साथ में यह भी सर्विस करनी है इसलिए बाबा जल्दी-जल्दी करते हैं। फिर भी होता तो ड्रामा अनुसार ही है। हर एक अपने टाइम पर चल रहा है, बच्चों को भी पुरूषार्थ करा रहे हैं। बच्चों को निश्चय है कि अभी बाकी थोड़ा समय है। यह हमारा अन्तिम जन्म है फिर हम स्वर्ग में होंगे। यह दु:खधाम है फिर सुखधाम हो जायेगा। बनने में टाइम तो लगता है ना। यह विनाश छोटा थोड़ेही है। जैसे नया घर बनता है तो फिर नये घर की ही याद आती है। वह है हद की बात, उसमें कोई सम्बन्ध आदि थोड़ेही बदल जाते हैं। यह तो पुरानी दुनिया ही बदलनी है फिर जो अच्छी रीति पढ़ेंगे वह राजाई कुल में आयेंगे। नहीं तो प्रजा में चले जायेंगे। बच्चों को बड़ी खुशी होनी चाहिए। बाबा ने समझाया है 50-60 जन्म तुम सुख पाते हो। द्वापर में भी तुम्हारे पास बहुत धन रहता है। दु:ख तो बाद में होता है। राजायें जब आपस में लड़ते हैं, फूट पड़ती है तब दु:ख शुरू होता है। पहले तो अनाज आदि भी बहुत सस्ते होते हैं। फैमन आदि भी बाद में पड़ती है। तुम्हारे पास बहुत धन रहता है। सतोप्रधान से तमोप्रधान में धीरे-धीरे आते हो। तो तुम बच्चों को अन्दर में बहुत खुशी रहनी चाहिए। खुद को ही खुशी नहीं होगी, शान्ति नहीं होगी तो वह विश्व में शान्ति क्या स्थापन करेंगे! बहुतों की बुद्धि में अशान्ति रहती है। बाप आते ही हैं शान्ति का वरदान देने। कहते हैं मुझे याद करो तो तमोप्रधान बनने कारण जो आत्मा अशान्त हो पड़ी है वह याद से सतोप्रधान शान्त बन जायेगी। परन्तु बच्चों से याद की मेहनत पहुँचती ही नहीं है, याद में न रहने के कारण ही फिर माया के तूफान आते हैं। याद में रहकर पूरा पावन नहीं बनेंगे तो सज़ा खानी पड़ेगी। पद भी भ्रष्ट होगा। ऐसे नहीं समझना चाहिए स्वर्ग में तो जायेंगे ना। अरे, मार खाकर पाई पैसे का सुख पाना यह कोई अच्छा है क्या। मनुष्य ऊंच पद पाने के लिए कितना पुरूषार्थ करते हैं। ऐसे नहीं कि जो मिला सो अच्छा है। ऐसा कोई नहीं होगा जो पुरूषार्थ नहीं करेगा। भीख मांगने वाले फकीर लोग भी अपने पास पैसे इकट्ठे करते हैं। पैसे के तो सभी भूखे होते हैं। पैसे से हर बात का सुख होता है। तुम बच्चे जानते हो हम बाबा से अथाह धन लेते हैं। पुरूषार्थ कम करेंगे तो धन भी कम मिलेगा। बाप धन देते हैं ना। कहते भी हैं – धन है तो अमेरिका आदि का चक्र लगाओ। तुम जितना बाप को याद करेंगे और सर्विस करेंगे उतना सुख पायेंगे। बाप हर बात में पुरूषार्थ कराते, ऊंच बनाते हैं। समझते हैं बच्चे नाम बाला करेंगे हमारे कुल का। तुम बच्चों को भी ईश्वरीय कुल का, बाप का नाम बाला करना है। यह सत बाप, सत टीचर, सतगुरू ठहरा। ऊंच ते ऊंच बाप ऊंच ते ऊंच सच्चा सतगुरू भी ठहरा। यह भी समझाया है कि गुरू एक ही होता है, दूसरा न कोई। सर्व का सद्गति दाता एक। यह भी तुम जानते हो। अभी तुम पारसबुद्धि बन रहे हो। पारसपुरी के पारसनाथ राजा-रानी बनते हो। कितनी सहज बात है। भारत गोल्डन एजड था, विश्व में शान्ति कैसे थी – यह तुम इस लक्ष्मी-नारायण के चित्र पर समझा सकते हो। हेविन में शान्ति थी। अभी है हेल। इनमें अशान्ति है। हेविन में यह लक्ष्मी-नारायण रहते हैं ना। कृष्ण को लॉर्ड कृष्णा भी कहते हैं। कृष्ण भगवान भी कहते हैं। अब लॉर्ड तो बहुत हैं, जिसके पास लैण्ड (जमीन) जास्ती होती है उनको भी कहते हैं – लैण्डलार्ड। कृष्ण तो विश्व का प्रिन्स था, जिस विश्व में शान्ति थी। यह भी किसको पता नहीं राधे-कृष्ण ही लक्ष्मी-नारायण बनते हैं।

तुम्हारे लिए लोग कितनी बातें बनाते हैं, हंगामा मचाते हैं, कहते हैं यह तो भाई-बहन बनाते हैं। समझाया जाता है प्रजापिता ब्रह्मा के मुख वंशावली ब्राह्मण, जिसके लिए ही गाते हैं ब्राह्मण देवी-देवताए नम:। ब्राह्मण भी उन्हों को नमस्ते करते हैं क्योंकि वह सच्चे भाई-बहन हैं। पवित्र रहते हैं। तो पवित्र की क्यों नहीं इज्ज़त करेंगे। कन्या पवित्र है तो उनके भी पांव पड़ते हैं। बाहर का विजीटर आयेगा, वह भी कन्या को नमन करेगा। इस समय कन्या का इतना मान क्यों हुआ है? क्योंकि तुम ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ हो ना। मैजारिटी तुम कन्याओं की है। शिवशक्ति पाण्डव सेना गाई हुई है। इनमें मेल भी हैं, मैजारटी माताओं की है इसलिए गाया जाता है। तो जो अच्छी रीति पढ़ते हैं वह ऊंच बनते हैं। अभी तुम सारे वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी जान गये हो। चक्र पर भी समझाना बहुत सहज है। भारत पारसपुरी था, अभी है पत्थरपुरी। तो सभी पत्थरनाथ ठहरे ना। तुम बच्चे इस 84 के चक्र को भी जानते हो। अभी जाना है घर तो बाप को भी याद करना है, जिससे पाप कटते हैं। परन्तु बच्चों से याद की मेहनत पहुँचती नहीं है क्योंकि अलबेलापन है। सवेरे उठते नहीं हैं। अगर उठते हैं तो मजा नहीं आता। नींद आने लगती है तो फिर सो जाते हैं। होपलेस हो जाते हैं। बाबा कहते हैं – बच्चे, यह युद्ध का मैदान है ना। इसमें होपलेस नहीं होना चाहिए। याद के बल से ही माया पर जीत पानी है। इसमें मेहनत करनी चाहिए। बहुत अच्छे-अच्छे बच्चे जो यथार्थ रीति याद नहीं करते, चार्ट रखने से घाटे-फायदे का पता पड़ जाता है। कहते हैं चार्ट ने तो मेरी अवस्था में कमाल कर दी है। ऐसे बिरला कोई चार्ट रखता है। यह भी बड़ी मेहनत है। बहुत सेन्टर्स में झूठे भी जाकर बैठते हैं, विकर्म करते रहते हैं। बाप के डायरेक्शन पर अमल न करने से बहुत नुकसान कर देते हैं। बच्चों को पता थोड़ेही पड़ता है – निराकार कहते हैं वा साकार? बच्चों को बार-बार समझाया जाता है – हमेशा समझो शिवबाबा डायरेक्शन देते हैं। तो तुम्हारी बुद्धि वहाँ लगी रहेगी।

आजकल सगाई होती है तो चित्र दिखाते हैं, अखबार में भी डालते हैं कि इनके लिए ऐसे-ऐसे अच्छे घर की चाहिए। दुनिया का क्या हाल हो गया है, क्या होने का है! तुम बच्चे जानते हो अनेक प्रकार की मतें हैं। तुम ब्राह्मणों की है एक मत। विश्व में शान्ति स्थापन करने की मत। तुम श्रीमत से विश्व में शान्ति स्थापन करते हो तो बच्चों को भी शान्ति में रहना पड़े। जो करेगा सो पायेगा। नहीं तो बहुत घाटा है। जन्म-जन्मान्तर का घाटा है। बच्चों को कहते हैं अपना घाटा और फ़ायदा देखो। चार्ट देखो हमने किसको दु:ख तो नहीं दिया? बाप कहते हैं तुम्हारा यह समय एक-एक सेकण्ड मोस्ट वैल्युबुल है, मोचरा खाकर मानी टुक्कड़ खाना वह क्या बड़ी बात है। तुम तो बहुत धनवान बनने चाहते हो ना। पहले-पहले जो पूज्य हैं उनको ही पुजारी बनना है। इतना धन होगा, सोमनाथ का मन्दिर बनायें तब तो पूजा करें। यह भी हिसाब है। बच्चों को फिर भी समझाते है चार्ट रखो तो बहुत फायदा होगा। नोट करना चाहिए। सबको पैगाम देते जाओ, चुप करके नहीं बैठो। ट्रेन में भी तुम समझाकर लिटरेचर दे दो। बोलो, यह करोड़ों की मिलकियत है। लक्ष्मी-नारायण का भारत में जब राज्य था तो विश्व में शान्ति थी। अब बाप फिर से वह राजधानी स्थापन करने आये हैं, तुम बाप को याद करो तो विकर्म विनाश हों और विश्व में शान्ति हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) हम विश्व में शान्ति स्थापन करने के निमित्त ब्राह्मण हैं, हमें बहुत-बहुत शान्तचित रहना है, बात-चीत बहुत आहिस्ते वा रॉयल्टी से करनी है।

2 अलबेलापन छोड़ याद की मेहनत करनी है। कभी भी होपलेस नहीं बनना है।

वरदान:- विकारों रूपी सांप को भी शैया बनाने वाले विष्णु के समान सदा विजयी, निश्चितं भव
जो विष्णु की शेश शैया दिखाते हैं यह आप विजयी बच्चों के सहजयोगी जीवन का यादगार है। सहजयोग द्वारा विकारों रूपी सांप भी अधीन हो जाते हैं। जो बच्चे विकारों रूपी सांपों पर विजय प्राप्त कर उन्हें आराम की शैया बना देते हैं वह सदा विष्णु के समान हर्षित व निश्चितं रहते हैं। तो सदा यह चित्र अपने सामने देखो कि विकारों को अधीन किया हुआ अधिकारी हूँ। आत्मा सदा आराम की स्थिति में निश्चितं है।
स्लोगन:- बालक और मालिक पन के बैलेन्स से प्लैन को प्रैक्टिकल में लाओ।

TODAY MURLI 13 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 13 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 12 July 2019:- Click Here

13/07/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become as merciful and benevolent as the Father. A sensible person is one who makes effort and also inspires others.
Question: What checking can you children do through your study? What is your effort?
Answer: From how you study, you can check whether you are playing a highest part, a mediocre part or a lowest part. A highest part would be said to be of those who make others the highest too, that is, those who do service and increase the number of Brahmins. Your effort is to take the old shoe off and put a new shoe on. When a soul becomes pure he can receive a pure new shoe (body).

Om shanti. You children earn an income in two ways. On the one side is the income earned by the pilgrimage of remembrance and, on the other side, by remembering the knowledge of the cycle of 84 births. This is called a double income, whereas on the path of ignorance, there is a momentary single income. Your income earned on the pilgrimage of remembrance is very great. Your lifespan continues to increase. You also become pure and liberated from all sorrow. The income is huge. In the golden age, your lifespan is also very long. There is no mention of sorrow there because there is no kingdom of Ravan there. On the path of ignorance, you receive temporary happiness from studying and the other happiness from studying is of those who study the scriptures. Their followers don’t receive any benefit from them. In fact, they are not even their followers because they neither change their dress etc. nor do they leave their homes. Therefore, how can they be called followers? There is peace, purity, everything there (satyug). Here, because of impurity, there is so much peacelessness in every home. You receive God’s directions: Now remember your Father. Consider yourself to be the Godly Government. However, you are incognito. You should have so much happiness in your hearts. We are now following shrimat. We are becoming satopradhan through His power. You are not going to receive your fortune of the kingdom here. Our fortune of the kingdom is in the new world. We now know about that. You can tell them the story of the 84 births of Lakshmi and Narayan. No matter what a person is like or what a teacheris like, not a single one of them would be able to say: Come and I will tell you the story of their 84 births. Your intellects now have this awareness. You also churn the ocean of knowledge. You now become the knowledge-full sun dynasty. Then, in the golden age, you will be called the Vishnu dynasty. When the Sun of Knowledge rises, the darkness of ignorance is dispelled. You receive knowledge at this time. It is only by taking knowledge that you receive salvation. The knowledge you receive is for half the cycle and then, for the other half cycle, there is ignorance. This too is fixed in the drama. You have now become sensible. The more sensible you become, the more effort you make to make others similar to yourselves. The Father is merciful and benevolent and so you children also have to become like Him. What would you call the children who don’t become benevolent? It is remembered that when you have courage, the Father helps. This too is definitely needed. How else would you receive the inheritance? You receive the inheritance according to the service you do. This is a Godly mission. Just as there is a Christian mission and an Islamic mission to make their own religion expand, so you make your Brahmin religion and your deity religion expand. According to the drama you children definitely become helpers. You definitely play the parts that you played in the previous cycle. You can see that each one is playing a highest, mediocre or lowest part. The One who makes you the highest is playing the highest part of all. So, you have to give everyone the Father’s introduction and also explain the secrets of the beginning, middle and end of the world. Rishis and munis etc. have been saying, “Neither this nor that!” (Neti neti). People have then been saying that God is omnipresent. They don’t know anything else. According to the drama, the intellects of souls become tamopradhan. You would not say that it is the intellects of their bodies; the mind and intellect are in the soul. You children have to understand this well and churn it. You then have to explain it. Those people have opened so many shops in order to relate the scriptures etc. Yours is also a shop. You need big shops in big cities. The children who are clever have a lot of treasures. If someone doesn’t have that many treasures, he cannot give them to others. Dharna takes place, numberwise. You children have to imbibe this very well so that you can explain it to anyone. It is not a big thing; it is a matter of a second. You have to claim your inheritance from the Father. You children have recognised the Father and so you have become the masters of the unlimited. Masters are also numberwise. The king is the master and the subjects too say: We are the masters. Here, too, everyone says: This is our Bharat. You say that you are establishing your heaven by following shrimat. Then, there will be the kingdom in heaven. There are many levels of status. You should make effort to claim a high status. The Father says: To the extent that you make effort now and claim a status, accordingly that will be fixed for cycle after cycle. If someone has few marks in an examination, he or she has heartfailure. This is a matter of the unlimited. If you don’t make full effort, you become disheartened and there will also have to be punishment. What would you be able to do at that time? Nothing at all! What would the soul do? Those people commit suicide by drowning themselves. Here, there is no question of suicide. There cannot be suicide of souls because they are imperishable, but there can be suicide of your bodies through which you play your part. You are now making effort to shed those old shoes so that you can take new divine shoes. Who says this? The soul. Just as children say: Give me new clothes, so we souls also want new clothes. The Father says: You souls have to become new and so, only when you also have new bodies will there be beauty. When souls become pure, the five elements become new. Bodies are created of the five elements. When a soul is satopradhan, he receives a satopradhan body and when a soul is tamopradhan, he receives a tamopradhan body. All the puppets of the whole world are now tamopradhan. Day by day, the world is continuing to become old and continues to fall. Everything changes from new to old. When it becomes old, it is destroyed. This is a question of the whole world. The new world is called the golden age and the old world is called the iron age, but no one knows about this confluence age. Only you know that this old world has to change. The orders of the unlimited Father, who is the Father, Teacher and Guru, are: Become pure! Conquer lust, which is the greatest enemy, and become conquerors of the world. To become a conqueror of the world means to become part of the dynasty of Vishnu; it is the same thing. You know the meaning of these words. You children know that it is the Father who is teaching you. First of all, you need to have this firm faith. As a child grows older, he has to remember his father, then he has to remember his teacher and then his guru. He would remember each of the three at different times. Here, you have found all three at the same time. The Father, Teacher and Guru are all One. Those people don’t even understand the meaning of “The stage of retirement.” They have to go into the stage of retirement and this is why they believe that they have to adopt a guru. They adopt a guru after the age of 60. This rule has only emerged now. The Father says: I become this one’s Satguru at the end of his many births, in his stage of retirement. This Baba also says: I found the Satguru after the age of 60 when it was the time to go to the land of nirvana. The Father comes to take everyone to the land of nirvana. You have to go to the land of liberation and then come here to play your parts. Many people adopt a guru when they reach the stage of retirement. Nowadays, they even make infants adopt a guru and so the guru would receive alms. Christians put a baby in the lap of a priest to “Christianise (baptise) him. However, they don’t go to the land of nirvana. The Father explains all of these secrets. God alone would tell you His end (limits). He has been telling you about it from the beginning. He tells you His own end and also gives you knowledge of the world. God Himself comes and establishes the original eternal deity religion, that is, He establishes heaven. The name that continues is Bharat. They have created so much confusion by putting Krishna’s name in the Gita. This is also in the drama; it is a play of victory and defeat. No one, except the Father, can tell you how there is victory and defeat. Even Lakshmi and Narayan do not know that they will later be defeated. Only you Brahmins know this. Even the shudras do not know this. The Father alone comes and makes you into deities from Brahmins. The meaning of “hum so” is completely different from the meaning of “om”. People continue to say things of no meaning of whatever enters their minds. You now understand how you descend and how you then ascend. You children receive this knowledge at this time. According to the drama, the Father will come again after a cycle and speak to you again. All the founders of religions will come and establish their religions at their own time. You would not say that they do this, numberwise, according to the effort they made. They come down, numberwise, according to the time and establish their own religions. Only the one Father explains how He establishes the Brahmin dynasty, then the sun dynasty and then the moon dynasty. You now become the knowledgeable sun dynasty and you then become the Vishnu dynasty. You have to write the words very carefully so that no one can find any mistakes. You know that every elevated version of this knowledge is a jewel, a diamond. The explanations of you children have to be very refined. If any word is missed out by mistake, you should instantly put it right and then explain it to them. The biggest mistake is to forget the Father. The Father orders you to remember Him constantly. You must not forget this. The Father says: You are my very old lovers. There is just the one Beloved of all of you lovers. Those people fall in love with one another’s looks. Here, there is just the one Beloved. How many lovers would that One remember? For many to remember One is easy, but how would the One remember many? You say to Baba: Baba, I remember You. Do You remember me? Ah! it is you who have to remember Him in order to become pure from impure. I am not impure that I should remember you. It is your duty to remember Me because you have to become pure. To the extent that someone has remembrance and does good service, accordingly he is able to imbibe. The pilgrimage of remembrance is very difficult. It is in this that there is a battle. It isn’t that you would forget the cycle of 84 births. Those ears have to become golden vessels. The more remembrance you have, the better you will be able to imbibe. There will be power in this. This is why it is said that there has to be the power of remembrance. There is an income earned through knowledge and you receive all the powers, numberwise by having remembrance. In swords, too, there is a numberwise difference in the power they have. That is a physical thing. The Father tells you just the one main thing: Remember Alpha. For the destruction of the world, there will just be atomic bombs that remain and nothing else. There are no armies or captains required for that. Nowadays, they have made such bombs that they can send them anywhere from wherever they are sitting. You are claiming your kingdom whilst sitting here and they will have everything destroyed whilst sitting there. Your knowledge and yoga are equal to their material for death. This too is the play. All are actors. The path of devotion has ended. The Father alone comes and gives you the introduction of Himself and the beginning, middle and end of creation. The Father now says: You must not listen to waste things. This is why you must hear no evil. An image of this has been created. Previously, it was made of monkeys whereas they now make them of human beings because, although people have faces of human beings, their characters are like those of monkeys and this is why the comparison is made. Whose army are you? Shiv Baba’s. He is changing you from monkeys to worthy of being in a temple. They have completely changed everything. Can monkeys build a bridge etc? All of those are tall stories. When anyone asks you if you believe in the scriptures, tell him: Wonderful! Is there anyone who would not believe in the scriptures? We believe in them the most. You still don’t study them as much as we do; we have studied them for half the cycle. In heaven, there are no scriptures or anything of devotion. The Father explains so easily but, nevertheless, you cannot make others similar to yourselves. Because of their bondage to their children, they are not able to come. This too is said to be the drama. The Father says: Take the course for a week or a fortnight and you should then begin to make others similar to yourselves. You should take up this service in the big cities and the capital. Then their voices (eminent people) will emerge. The sound will not spread without the voices of eminent people. When service spreads everywhere with great force, many will come. You are receiving the Father’s directions. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Make your intellect refined with knowledge and yoga. Do not make the mistake of forgetting the Father. Become a lover and remember the Beloved.
  2. Become free from bondage and do the service of making others similar to yourself. Make effort to claim a high status. Never become disheartened with your effort.
Blessing: May you be an enlightened soul who makes the seed of each thought constantly powerful.
Together with listening to knowledge and speaking knowledge, also become an embodiment of knowledge. An embodiment of knowledge means being one whose every thought, word and deed is powerful and all waste is finished. Where there is power, there cannot be anything wasteful, just as light and darkness cannot co-exist. Knowledge is light and waste is darkness and so, an enlightened soul means that every thought, that is, every seed, is powerful. The words, deeds and relationships of those whose thoughts are powerful easily become powerful.
Slogan: In order to go into the sun-dynasty clan, be yogis, not warriors.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 13 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 July 2019

To Read Murli 12 July 2019 :- Click Here
13-07-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप समान रहमदिल और कल्याणकारी बनो, समझदार वह जो खुद भी पुरूषार्थ करे और दूसरों को भी करायेˮ
प्रश्नः- तुम बच्चे अपनी पढ़ाई से कौन-सी चेकिंग कर सकते हो, तुम्हारा पुरूषार्थ क्या है?
उत्तर:- पढ़ाई से तुम चेकिंग कर सकते हो कि हम उत्तम पार्ट बजा रहे हैं या मध्यम या कनिष्ट। सबसे उत्तम पार्ट उनका कहेंगे जो दूसरों को भी उत्तम बनाते हैं अर्थात् सर्विस कर ब्राह्मणों की वृद्धि करते हैं। तुम्हारा पुरूषार्थ है पुरानी जुत्ती उतार नई जुत्ती लेने का। जब आत्मा पवित्र बनें तब उसे नई पवित्र जुत्ती (शरीर) मिले।

ओम् शान्ति। बच्चे दो तरफ से कमाई कर रहे हैं। एक तरफ है याद की यात्रा से कमाई और दूसरी तरफ है 84 के चक्र के ज्ञान का सिमरण करने से कमाई। इसको कहा जाता है डबल आमदनी और अज्ञान काल में होती है अल्पकाल क्षण भंगुर सिंगल आमदनी। यह तुम्हारे याद की यात्रा की आमदनी बहुत बड़ी है। आयु भी बड़ी हो जाती है, पवित्र भी बनते हो। सभी दु:खों से छूट जाते हो। बहुत बड़ी आमदनी है। सतयुग में आयु भी बड़ी हो जाती है। दु:ख का नाम नहीं क्योंकि वहाँ रावण राज्य ही नहीं। अज्ञान काल में पढ़ाई का अल्पकाल का सुख रहता है और दूसरा पढ़ाई का सुख, शास्त्र पढ़ने वालों को मिलता है। उनसे फालोअर्स को कुछ फायदा नहीं। फालोअर्स तो हैं भी नहीं क्योंकि वह तो न ड्रेस आदि बदलते, न घरबार छोड़ते तो फालोअर्स कैसे कह सकते! वहाँ तो शान्ति, पवित्रता सब है। यहाँ अपवित्रता के कारण घर-घर में कितनी अशान्ति होती है। तुमको मत मिलती है ईश्वर की। अभी तुम अपने बाप को याद करो। अपने को ईश्वरीय गवर्मेन्ट समझो। परन्तु तुम हो गुप्त। दिल में कितनी खुशी होनी चाहिए। अभी हम हैं श्रीमत पर। उनकी शक्ति से सतोप्रधान बन रहे हैं। यहाँ तो कोई राज्य-भाग्य लेना नहीं है। हमारा राज्य-भाग्य होता ही है नई दुनिया में। अभी उसका मालूम पड़ा है। इन लक्ष्मी-नारायण के 84 जन्मों की कहानी तुम बता सकते हो। भल कोई भी मनुष्य मात्र हो, कैसा भी कोई पढ़ाने वाला हो परन्तु एक भी ऐसे कह नहीं सकेंगे कि आओ तो हम इन्हों के 84 जन्म की कहानी बतायें। तुम्हारी बुद्धि में अब स्मृति रहती है, विचार सागर मंथन भी करते हो।

अब तुम हो ज्ञान सूर्यवंशी। फिर सतयुग में कहा जायेगा विष्णु वंशी। ज्ञान सूर्य प्रगटा……. इस समय तुम्हें ज्ञान मिल रहा है ना। ज्ञान से ही सद्गति होती है। आधाकल्प ज्ञान चलता है फिर आधाकल्प अज्ञान हो जाता है। यह भी ड्रामा की नूँध है। तुम अभी समझदार बने हो। जितना-जितना तुम समझदार बनते हो औरों को भी आपसमान बनाने का पुरूषार्थ करते हो। तुम्हारा बाप रहमदिल, कल्याणकारी है तो बच्चों को भी बनना है। बच्चे कल्याणकारी न बनें तो उनको क्या कहेंगे? गायन भी है ना – “हिम्मते बच्चे, मददे बाप। यह भी जरूर चाहिए। नहीं तो वर्सा कैसे पायेंगे। सर्विस अनुसार तो वर्सा पाते हो, ईश्वरीय मिशन हो ना। जैसे क्रिश्चियन मिशन, इस्लामी मिशन होती है, वह अपने धर्म को बढ़ाते हैं। तुम अपने ब्राह्मण धर्म और दैवी धर्म को बढ़ाते हो। ड्रामा अनुसार तुम बच्चे जरूर मददगार बनेंगे। कल्प पहले जो पार्ट बजाया था वह जरूर बजायेंगे। तुम देख रहे हो हर एक अपना उत्तम, मध्यम, कनिष्ट पार्ट बजा रहे हैं। सबसे उत्तम पार्ट वह बजाते हैं, जो उत्तम बनाने वाला है। तो सभी को बाप का परिचय देना है और आदि, मध्य, अन्त का राज़ समझाना है। ऋषि-मुनि आदि भी नेती-नेती कहते गये। और फिर कह देते सर्वव्यापी है, और कुछ नहीं जानते। ड्रामा-अनुसार आत्मा की बुद्धि भी तमोप्रधान बन जाती है। शरीर की बुद्धि नहीं कहेंगे। आत्मा में ही मन-बुद्धि है। यह अच्छी रीति समझकर और फिर बच्चों को चिन्तन करना है। फिर समझाना होता है। वो लोग शास्त्र आदि सुनाने के लिए कितने दुकान निकाल बैठे हैं। तुम्हारी भी दुकान है। बड़े-बड़े शहरों में बड़े दुकान चाहिए। बच्चे जो तीखे होते हैं, उनके पास खजाना बहुत रहता है। इतना खजाना नहीं है तो कोई को दे भी नहीं सकते हैं! धारणा नम्बरवार होती है। बच्चों को अच्छी रीति धारणा करनी है जो किसी को समझा सकें। बात कोई बड़ी नहीं है, सेकण्ड की बात है – बाप से वर्सा लेना। तुम आत्मायें बाप को पहचान गये हो तो बेहद के मालिक हो गये। मालिक भी नम्बरवार होते हैं। राजा भी मालिक तो प्रजा भी कहेगी हम भी मालिक हैं। यहाँ भी सब कहते हैं ना हमारा भारत। तुम भी कहते हो श्रीमत पर हम अपना स्वर्ग स्थापन कर रहे हैं, फिर स्वर्ग में भी राजधानी है। अनेक प्रकार के दर्जे हैं। पुरूषार्थ करना चाहिए ऊंच पद पाने का। बाप कहते हैं जितना अभी पुरूषार्थ कर पद पायेंगे, वही कल्प-कल्पान्तर के लिए होगा। इम्तहान में कोई की कम मार्क्स हो जाती हैं तो फिर हार्टफेल भी हो जाते हैं। यह तो है बेहद की बात। पूरा पुरूषार्थ नहीं किया तो फिर दिलशिकस्त भी होंगे, सजा भी खानी पड़ेगी। उस समय कर ही क्या सकेंगे। कुछ भी नहीं। आत्मा क्या करेगी! वो लोग तो जीवघात करते, डूब मरते हैं। इसमें घात आदि की बात नहीं। आत्मा का तो घात होता नहीं, वह तो अविनाशी है। बाकी शरीर का घात होता है, जिससे तुम पार्ट बजाते हो। अभी तुम पुरूषार्थ करते हो, यह पुरानी जुत्ती उतार हम नई दैवी जुत्ती ले लेवें। यह कौन कहते हैं? आत्मा। जैसे बच्चे कहते हैं ना – हमको नया कपड़ा दो। हम आत्माओं को भी नया कपड़ा चाहिए। बाप कहते हैं तुम्हारी आत्मा नई बने तो शरीर भी नया चाहिए तब शोभा है। आत्मा के पवित्र होने से 5 तत्व भी नये बन जाते हैं। 5 तत्वों का ही शरीर बनता है। जब आत्मा सतोप्रधान है तो शरीर भी सतोप्रधान मिलता है। आत्मा तमोप्रधान तो शरीर भी तमोप्रधान। अब सारी दुनिया के पुतले तमोप्रधान हैं, दिन-प्रतिदिन दुनिया पुरानी होती जाती, गिरती जाती है। नये से पुरानी तो हर एक चीज़ होती है। पुरानी हो फिर डिस्ट्रॉय होती है, यह तो सारी सृष्टि का सवाल है। नई दुनिया को सतयुग, पुरानी को कलियुग कहा जाता है। बाकी इस संगमयुग का तो किसको भी पता नहीं। तुम ही जानते हो यह पुरानी दुनिया बदलनी है।

अब बेहद का बाप जो बाप, टीचर, गुरू है, उनका फ़रमान है कि पावन बनो। काम जो महाशत्रु है, उन पर जीत पहन जगतजीत बनो। जगत जीत अर्थात् विष्णु वंशी बनो। बात एक ही है। इन अक्षरों का अर्थ तुम जानते हो। बच्चे जानते हैं हमको पढ़ाने वाला है बाप। पहले तो यह पक्का निश्चय चाहिए। बच्चा बड़ा होता है तो बाप को याद करना पड़े। फिर टीचर को फिर गुरू को याद करना पड़े। भिन्न-भिन्न समय पर तीनों को याद करेंगे। यहाँ तो तुमको तीनों ही इकट्ठे एक ही टाइम मिले हैं। बाप, टीचर, गुरू एक ही है। वो लोग तो वानप्रस्थ का भी अर्थ नहीं समझते। वानप्रस्थ में जाना है इसलिए समझते हैं गुरू करना चाहिए। 60 वर्ष के बाद गुरू करते हैं। यह कायदा अभी ही निकला है। बाप कहते हैं – इनके बहुत जन्मों के अन्त में वानप्रस्थ अवस्था में मैं इनका सतगुरू बनता हूँ। बाबा भी कहते हैं 60 वर्ष बाद सतगुरू किया है जबकि निर्वाणधाम जाने का समय है। बाप आते ही हैं सबको निर्वाणधाम में ले जाने। मुक्तिधाम जाकर फिर पार्ट बजाने लिए आना है। वानप्रस्थ अवस्था तो बहुतों की होती है, फिर गुरू करते हैं। आजकल तो छोटा बच्चा हुआ, उनको भी गुरू करा देते हैं फिर गुरू को दक्षिणा मिल जायेगी। क्रिश्चियन लोग क्रिश्चिनाइज़ कराने गोद में जाकर देते हैं। परन्तु वह कोई निर्वाणधाम में जाते नहीं। यह सब राज़ बाप समझाते हैं, ईश्वर का अन्त तो ईश्वर ही बतायेंगे। शुरू से लेकर बतलाते आये हैं। अपना अन्त भी देते हैं और सृष्टि का ज्ञान भी देते हैं। ईश्वर खुद आकर आदि सनातन देवी-देवता अर्थात् स्वर्ग की स्थापना करते हैं, इनका नाम भारत ही चला आता है। गीता में सिर्फ कृष्ण का नाम डाल कितना रोला कर दिया है। यह भी ड्रामा है, हार और जीत का खेल है। इसमें हार-जीत कैसे होती है, यह बाप बिगर तो कोई बता न सके। यह लक्ष्मी-नारायण भी नहीं जानते कि हमको फिर हार खानी है। यह तो सिर्फ तुम ब्राह्मण ही जानते हो। शूद्र भी नहीं जानते। बाप ही आकर तुमको ब्राह्मण से देवता बनाते हैं। हम सो का अर्थ बिल्कुल अलग है। ओम् का अर्थ अलग है। मनुष्य तो बिगर अर्थ जो आया वह कह देते हैं। अभी तुम जानते हो कि कैसे नीचे गिरते हैं फिर चढ़ते हैं। यह ज्ञान अभी तुम बच्चों को मिलता है। ड्रामा अनुसार फिर कल्प बाद बाप ही आकर बतायेंगे। जो भी धर्म स्थापक हैं, वह आकर फिर अपना धर्म अपने समय पर स्थापन करेंगे। नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार नहीं कहेंगे। नम्बरवार समय अनुसार आकर अपना-अपना धर्म स्थापन करते हैं। यह एक बाप ही समझाते हैं, मैं कैसे ब्राह्मण फिर सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी डिनायस्टी स्थापन करता हूँ? अभी तुम हो ज्ञान सूर्यवंशी जो फिर विष्णुवंशी बनते हो। अक्षर बड़ी खबरदारी से लिखने होते हैं, जो कोई भूल न निकाले।

तुम जानते हो यह ज्ञान का एक-एक महावाक्य रत्न, हीरे हैं। बच्चों में समझाने की बहुत रिफाइननेस चाहिए। कोई अक्षर भूल से निकल जाए तो फट से राइट कर समझाना चाहिए। सबसे कड़ी भूल है बाप को भूलना। बाप फ़रमान करते हैं मामेकम् याद करो। यह भूलना नहीं चाहिए। बाप कहते हैं तुम बहुत पुराने आशिक हो। तुम सब आशिकों का एक माशूक है। वह तो एक-दो की शक्ल पर आशिक-माशूक होते हैं। यहाँ तो माशूक है एक। वह एक कितने आशिकों को याद करेंगे। अनेकों को एक को याद करना तो सहज है, एक कैसे अनेकों को याद करेंगे! बाबा को कहते हैं बाबा हम आपको याद करते हैं। आप हमको याद करते हैं? अरे, याद तुमको करना है, पतित से पावन होने के लिए। मै थोड़ेही पतित हूँ, जो याद करूँ। तुम्हारा काम है याद करना क्योंकि पावन बनना है। जो जितना याद करते हैं और अच्छी रीति सर्विस भी करते हैं, उनको धारणा होती है। याद की यात्रा बहुत डिफीकल्ट है, इसमें ही युद्ध चलती है। बाकी ऐसे नहीं कि 84 का चक्र तुम भूल जायेंगे। यह कान सोने का बर्तन चाहिए। जितना तुम याद करेंगे उतनी धारणा अच्छी होगी, इसमें ताकत रहेगी इसलिए कहते हैं याद का जौहर चाहिए। ज्ञान से कमाई है। याद से सर्व शक्तियां मिलती हैं नम्बरवार। तलवारों में भी नम्बरवार जौहर का फ़र्क होता है। वह तो हैं स्थूल बातें। मूल बात बाप एक ही कहते हैं – अल्फ को याद करो। दुनिया के विनाश के लिए यह एक एटॉमिक बॉम जाकर रहेगा और कुछ नहीं, उसमें न सेना चाहिए न कैप्टन। आजकल तो ऐसा बनाया है, जो वहाँ बैठे-बैठे बॉम छोड़ेंगे। तुम यहाँ बैठे-बैठे राज्य लेते हो, वह वहाँ बैठे सबका विनाश करा देंगे। तुम्हारा ज्ञान और योग, उनका मौत का सामान इक्वल हो जाता है। यह भी खेल है। एक्टर्स तो सब हैं ना। भक्ति मार्ग पूरा हुआ है, बाप ही आकर अपना और रचना के आदि-मध्य-अन्त का परिचय देते हैं। अब बाप कहते हैं व्यर्थ की बातें तुम नहीं सुनो इसलिए हियर नो ईविल…….इसका चित्र बनाया है। आगे बन्दर का बनाते थे, अब मनुष्य का बनाते हैं क्योंकि सूरत मनुष्य की है परन्तु सीरत बन्दर जैसी है, इसलिए भेंट करते हैं। अभी तुम किसकी सेना हो? शिवबाबा की। बन्दर से तुमको मन्दिर लायक बना रहे हैं। कहाँ की बात कहाँ ले गये हैं। बन्दर कोई पुल आदि बांध सकता है क्या? यह सब हैं दन्त कथायें। कभी भी कोई पूछे शास्त्रों को तुम मानते हो? बोलो वाह! ऐसा कौन होगा जो शास्त्रों को नहीं मानेगा। हम सबसे जास्ती मानते हैं। तुम भी इतना नहीं पढ़ते हो जितना हम पढ़ते हैं। आधाकल्प हमने पढ़े हैं। स्वर्ग में शास्त्र, भक्ति की कोई चीज़ नहीं होती। कितना सहज बाप समझाते हैं। फिर भी आप समान बना नहीं सकते। बच्चों आदि के बन्धन के कारण कहाँ निकल नहीं सकते। यह भी ड्रामा ही कहेंगे। बाप कहते हैं हफ्ता 15 दिन कोर्स ले फिर आपसमान बनाने लग जाना चाहिए। जो बड़े-बड़े शहर हैं, कैपीटल में घेराव डालना चाहिए तो फिर उनका आवाज़ निकलेगा। बड़े आदमी बिगर कोई का आवाज़ निकल न सके। जोर से घेराव डालो तो फिर बहुत आयेंगे। बाप के डायरेक्शन मिलते हैं ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ज्ञान और योग से अपनी बुद्धि को रिफाइन बनाना है। बाप को भूलने की भूल कभी नहीं करनी है। आशिक बन माशूक को याद करना है।

2) बन्धनमुक्त बन आप समान बनाने की सेवा करनी है। ऊंच पद पाने का पुरूषार्थ करना है। पुरूषार्थ में कभी दिलशिकस्त नहीं बनना है।

वरदान:- संकल्प रूपी बीज को सदा समर्थ बनाने वाले ज्ञानी तू आत्मा भव
ज्ञान सुनने और सुनाने के साथ-साथ ज्ञान स्वरूप बनो। ज्ञान स्वरूप अर्थात् जिनका हर संकल्प, बोल और कर्म समर्थ हो, व्यर्थ समाप्त हो जाए। जहाँ समर्थ है वहाँ व्यर्थ नहीं हो सकता। जैसे प्रकाश और अन्धियारा साथ-साथ नहीं होता। तो ज्ञान प्रकाश है, व्यर्थ अंधकार है इसलिए ज्ञानी तू आत्मा माना हर संकल्प रूपी बीज समर्थ हो। जिनके संकल्प समर्थ हैं उनकी वाणी, कर्म, सम्बन्ध सहज ही समर्थ हो जाता है।
स्लोगन:- सूर्यवंश में जाना है तो योगी बनो, योद्धे नहीं।

TODAY MURLI 13 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 13 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 12 July 2018 :- Click Here

13/07/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, simply remember two sentences: We are the grandchildren of the Satguru. We claim our inheritance from our Grandfather through Brahma, our father.
Question: It is remembered that those who ascend taste the nectar of heaven, whereas every bone of those who fall is crushed. This song applies to you children and no one else. Why?
Answer: Because your destination is extremely high. You now go home to the Father in the supreme abode, and you then go down into the new world. This saying cannot apply to anyone else. They (the sannyasis) are numberwise; there are some weak ones among them and some who are strong but they do not have their destination in front of them. They don’t know the taste of the experience of heaven. Only you children say that you now want to follow the path where you fall and become careful again.
Song: We want to follow the path where we fall and also have to be careful.

Om shanti. When a song is played, you children understand that there is knowledge for us in the song. For ignorant people, there is only ignorance in it whereas for an enlightened soul, there is knowledge in it. You understand that it is definitely the storms of Maya that make you fall and that the Father, God, raises you up. That is, He gives the life-giving herb of knowledge to those who have fallen. Those who get caught up in a storm of lust fall, if they get caught up in a storm of anger too, they fall. This falling and ascending continues. Those who ascend taste the nectar of heaven, whereas every bone of those who fall is crushed. This song cannot apply to anyone except you; it doesn’t apply even to sannyasis, although there may be some weak sannyasis too. None of them have a destination. Your destination is the highest of all. They study the scriptures etc. and perhaps become scholars, but they don’t have the destination of claiming a kingdom etc. Here, the destination is very high. You children understand that unlimited BapDada is teaching you. Mama also teaches and children teach as well. You are the grandchildren of the Grandfather. At Amritsar, when a grandfather and his grandchildren are together, it would be said, “This is the seventh generation” or “This is the second generation”. You understand that there will be generations of deities in the golden age; there will be the first generation, the second generation etc. Here, you have no generations. There is one father, one Grandfather, one Mama and the rest are all children, that’s all! There is no one, other than the Grandfather and the grandchildren. It is now very easy to remember these things. We are Brahma Kumars and Kumaris and so Brahma is your father, and Shiva is your Grandfather. We receive our property from Him. It is very easy to remember that you are the grandsons and granddaughters of the Grandfather: Brahma Kumars and Kumaris. Brahma is the only son of Shiva. It is not that we are Vishnu Kumaris or Shankar Kumaris. Only one Brahma is called Prajapita Brahma. Baba explains in a very easy manner. You have become Brahma Kumars and Kumaris in order to claim your inheritance from Shiv Baba. Shiv Baba tells you what to explain to others: You definitely have to remember Shiv Baba, from whom you receive the inheritance. If you remember anyone else, you will receive an inheritance of hell. This is something that has to be understood. You do not receive the inheritance from the father but you receive it from the Grandfather. He is the Creator of heaven and the Bestower of knowledge. Shiv Baba speaks through Brahma and this Brahma also listens. Saraswati, the first daughter of Brahma, has also been remembered. Brahma Kumari Saraswati, the world mother, is praised a great deal. She claims an even greater inheritance than Brahma. This is why Lakshmi is remembered first, then Narayan. You understand that you are the children of Jagadamba, the world mother, and Jagadpita, the world father. So, why do you not claim your inheritance from the Grandfather? You are Brahma Kumars and Kumaris, grandsons and granddaughters of the Grandfather, that’s all! There is no second or third generation. There are no great grandchildren or great great grandchildren. Who would not remember the Grandfather? You know that the more you remember Him, the more your sins will be absolved. You can explain to anyone that Shiva, the Supreme Father, the Supreme Soul, is the Creator of heaven. He definitely creates that through Brahma. He says to the Brahma Kumars and Kumaris through Brahma: Remember Me and the inheritance (heaven). Forget all the relations of the body. It has been said: If you die, the world is dead for you. When a soul separates from his body, nothing remains; the consciousness of the body ends. You have now come to Baba and you will then become beautiful. You are now ugly. This is a play about changing from ugly to beautiful. You souls are becoming pure and beautiful. You souls have become iron aged and so your bodies too are likewise. You were beautiful in the golden age. The beautiful Traveller comes and makes you beautiful. That soul is forever beautiful. He never has alloy mixed into Him because He doesn’t come into birth and death. He explains in such an easy manner but some still forget and divorce such a Grandfather. Therefore, Baba says: If you want to see the greatest fools of all as well as the wisest ones of all, see them here. They are so foolish that they cannot even understand these two very easy aspects. You simply have to understand that you are souls and that this is the incorporeal Supreme Soul, your Grandfather. This Prajapita Brahma is very well known. Shiv Baba gives you the inheritance through him. If you leave Brahma, you also leave the Grandfather, and then your inheritance will end. Baba explains in such an easy way. You are Brahma Kumars and Kumaris. Brahma, Vishnu and Shankar are residents of the subtle region, but, out of them, it is Brahma who is called Prajapita. The human world cannot be created in the subtle region. Therefore, Vishnu and Shankar cannot be called Prajapita. The Father of People would surely exist here. Brahmins emerge from the lotus mouth of Brahma. Ask those brahmin priests whose children they are. That has simply become their praise, for they are not that in reality. You now understand that the Supreme Father, the Supreme Soul, establishes the deity and warrior religions through Brahma and that He does that at the confluence age. Brahmins are definitely needed at the confluence age. At the end of the iron age, they are shudras. This is explained to you children so well. Shrimat is very well known. What did you hear in the Shrimad Bhagawad Gita? The doubly-elevated One (Shri Shri) speaks this knowledge and must have made you the most elevated of all. You have now become Brahma Kumars and Kumaris in a practical way. You say: BapDada, we also met You a cycle ago. We have come to claim our inheritance from the Grandfather. Achcha. What did you become through that? The sun dynasty or the moon dynasty? Did you marry Shri Narayan or Shri Rama? You say: Baba, we will marry Shri Narayan. However, they then forget. They forget the One who makes them so worthy. May no one ever forget the Grandfather or the father! They divorce Him very quickly and don’t even remember Him. They cannot even imbibe two words of knowledge. They forget that they are grandchildren of the Satguru, that is, grandchildren of the Grandfather and that they are claiming their inheritance from Him by making effort. The inheritance of a physical father, which is his property, is normally shared out. Here, there is no question of anything being shared out. You have to make effort for this. You do not have to buy a plot on the moon etc. You become the masters of the kingdom here because you have to play your part s here. You don’t need to go to the moon etc. That is called the arrogance of science. Through extreme arrogance, they reach the stage of destruction. Just look what has been invented! They go hundreds of thousands of miles into space. They even know how far they have travelled and what is on the moon. The moon is cool. They would get hot if they were to go towards the sun. There is so much arrogance of science. They call them rockets. Baba has explained that souls are the greatest rockets of all. They are only points. How much would they weigh? There is so much knowledge contained within this point. Souls can fly from here to there in a second. They remember Baba and fly within a second. Only those with very shrewd intellects are able to understand this and explain to others. Shiv Baba is also a point. They say that He has a large oval-shaped form. However, it would be said that a soul isn’t that large and that the Supreme Soul cannot be that large. They then say that God is brahm, the element of light. They are unable to understand anything. Until they come personally in front of God, they will not be able to understand the name or form of God. We show Shiv Baba’s picture, but He is not like that. His form is that of a point, but how can a point be worshipped? How could He be offered flowers etc.? That has continued on the path of devotion. They have created a large form for the sake of worship in the temples. Achcha. Baba says: If this knowledge doesn’t sit in your intellects, you can at least understand that you are Brahma Kumars and Kumaris, grandchildren of the Grandfather. God Shiva is the Highest on High. His creation cannot be called God , the Father. We are His grandchildren. He says: I make you into the masters of heaven. You also understand that you are now tamopradhan and ugly. You are being made satopradhan and beautiful by Baba. Rama too was beautiful, but he had two celestial degrees less than Krishna. He too has now become ugly. They say of Krishna that a snake bit him. However, nothing like that happens. It was by sitting on the pyre of lust that he became ugly; he became ugly from beautiful. Now, in order to become satopradhan again, you have to remember the Father. One Traveller makes so many beautiful. He makes them into the masters of the world. He simply says: Remember Me, the Father, otherwise, how would you receive the inheritance? The fire of yoga is needed in order to destroy your sins. Have remembrance again and again. Some think that they are His children anyway. However, if you do not have remembrance throughout the whole day, your sins will not be absolved and the mercury of your happiness will not rise. This aspect does not sit in the intellects of even some who have been here for 20 to 25 years. They forget this and go back to the old world and cancel their lines of fortune. The fortune begins from the moment you come into the lap of the Mother and Father. By saying, “Mama and Baba”, you become those who have the right to heaven. People here also say: Our Hindustan is the highest of all. However, if it is the highest of all, why is it in so much debt? Why has it become so poverty-stricken? A great deal of wealth has been taken from here. A huge revenue is earned in the factories. If there weren’t any factories, no one would have a job. If they didn’t have jobs, how would they sustain themselves? They have become unhappy. This is why so many methods are created for Bharat. These methods are created so that children don’t experience so much sorrow. So many from here go abroad to get a job because they can earn a great deal of money there. The Father says: I love even the thorns. I come and purify all the impure ones. I love the thorns and I also love those who become flowers from thorns. According to the drama, I grant salvation to all. Rama is the One who grants salvation to all and so He is the One who is loved by all. Thorns as well as flowers are included in this. Heaven is created according to the law. Therefore, He makes you worthy of it. People call out: O Purifier, come! Come and make us pure! You understand that the Purifier Father has now come in order to purify Bharat in particular and the world in general. The name: Sarvodaya leader (the leader who has mercy on all) is given. They have given that name to themselves, just as they call themselves: Shri, shri, 108. “Sarva” means all, but no human being can grant salvation to all. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to shed body consciousness, die alive. When you die, the world is dead for you. Practise becoming detached from your body again and again.
  2. We are grandchildren of the Grandfather. We have to become worthy and claim the full inheritance from Him. The soul has to become pure with the power of yoga and remain happy.
Blessing: May you be obedient by placing your footsteps in the Father’s steps and receive God’s blessings.
To be obedient means to place your footsteps in the Father’s steps of instructions. Only such obedient children receive God’s blessings in all relationships. This is also a law. In an ordinary way too, when someone carries out a task according to someone’s directions, he definitely receives blessings from the one whose task he is carrying out. These are God’s blessings which make obedient souls constantly double light.
Slogan: Make divinity and spirituality the decoration of your life and all ordinariness will finish.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 13 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 13 July 2018

To Read Murli 12 July 2018 :- Click Here
13-07-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – सिर्फ दो अक्षर याद करो – हम हैं सतगुरू पोत्रे जो ब्रह्मा बाप द्वारा दादे का वर्सा लेते हैं”
प्रश्नः- चढ़े तो चाखे वैकुण्ठ रस…यह गायन तुम बच्चों से लगता, दूसरों से नहीं – क्यों?
उत्तर:- क्योंकि तुम्हारे सामने जबरदस्त मंजिल है। तुम बाप के पास परमधाम घर जाते हो, फिर नई दुनिया में आते हो। दूसरे किसी के लिए भी यह गायन नहीं हो सकता है। भल उनमें भी कच्चे-पक्के नम्बरवार होते हैं लेकिन उनके सामने मंजिल नहीं होती। वह वैकुण्ठ रस को जानते भी नहीं। तुम बच्चे ही कहते हो अब हमें उन राहों पर चलना है जहाँ गिरना और सम्भलना है।
गीत:- हमें उन राहों पर चलना है…….. 

ओम् शान्ति। जब गीत बजता है तो बच्चे समझते हैं कि हमारे लिए इनमें भी ज्ञान है। अज्ञानी मनुष्य के लिए अज्ञान है। ज्ञानी तू आत्मा के लिए ज्ञान है। समझते हो बरोबर माया के तूफान ही गिराते हैं फिर ईश्वर बाप चढ़ाते हैं अर्थात् गिरे हुए को ज्ञान की संजीवनी बूटी देते हैं। अगर कोई काम के तूफान में आ जाते हैं तो गिर जाते हैं फिर क्रोध का भी तूफान लगता है तो गिरना होता है। यह गिरना और चढ़ना होता है। चढ़े तो चाखे वैकुण्ठ रस…….. अब यह गीत सिवाए तुम्हारे और किसके साथ लग नहीं सकता। सन्यासियों से भी नहीं लग सकता। भल उन्हों के पास भी कच्चे सन्यासी होंगे परन्तु उन्हों की कोई मंजिल नहीं है। तुम्हारी तो बड़े ते बड़ी जबरदस्त मंजिल है। वह करके शास्त्र आदि पढ़कर विद्वान बन जाते हैं। बाकी राजाई आदि की कोई मंजिल नहीं, इसमें बड़ी ऊंच मंजिल है। बच्चे जानते हैं बेहद का बापदादा पढ़ाते हैं। मम्मा भी पढ़ाती फिर बच्चे भी पढ़ाते हैं। तुम हो दादे पोत्रे। अमृतसर में दादे पोत्रे होते हैं फिर कहेंगे यह सातवीं पीढ़ी है, यह दूसरी पीढ़ी है। तुम समझते हो सतयुग में भी पीढ़ी चलती है देवताओं की। पहली पीढ़ी, दूसरी पीढ़ी…….. यहाँ फिर तुम्हारी पीढ़ियां नहीं। एक दादा, एक बाबा, एक मम्मा और बच्चे-बच्चियां। बस, दादे पोत्रे से आगे कुछ नहीं कहेंगे। अब यह याद करना तो अति सहज है। हम ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं। ब्रह्मा हुआ हमारा बाबा। दादा है शिव। उनसे मिलकियत मिलती है। कितनी सहज बात है। हम दादे पोत्रियाँ ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं। ब्रह्मा एक ही बच्चा है शिव का। ऐसे नहीं कहेंगे कि हम विष्णु कुमारी अथवा शंकर कुमारी हैं। प्रजापिता एक ही ब्रह्मा को कहा जाता है। बाबा बहुत सहज समझाते हैं। ब्रह्माकुमार-कुमारियां। तुम ब्रह्माकुमार-कुमारी बने हो – शिवबाबा से वर्सा लेने लिए। शिवबाबा कहते हैं ऐसे-ऐसे कोई को समझाओ। याद जरूर शिवबाबा को करना है, जिससे वर्सा मिलता है। और कोई को याद करेंगे तो नर्क का वर्सा मिलेगा – यह तो समझ की बात है। वर्सा बाप से नहीं, दादे से मिलता है।

स्वर्ग का रचयिता ज्ञान दाता वह है। शिवबाबा सुनाते हैं ब्रह्मा द्वारा, फिर यह ब्रह्मा भी सुन लेते हैं। ब्रह्मा की भी पहली-पहली बच्ची सरस्वती गाई हुई है। ब्रह्माकुमारी सरस्वती जगत अम्बा कितनी गाई हुई है! शिवबाबा से ब्रह्मा से भी जास्ती वर्सा लेती है इसलिए पहले लक्ष्मी फिर नारायण गाया जाता है। तुम जानते हो हम जगत अम्बा और जगतपिता के बच्चे ठहरे, तो क्यों नहीं दादा से वर्सा ले लेंवे? हम ब्रह्माकुमार-कुमारियां दादे, पोत्रे, पोत्रियां हैं, बस। दूसरी-तीसरी पीढ़ी नहीं है, परपोत्रे तरपोत्रे कुछ नहीं। दादे को कौन याद नहीं करेगा? तुम जानते हो हम जितना याद करेंगे उतना विकर्म विनाश होंगे। तुम कोई को भी समझा सकते हो शिव परमपिता परमात्मा स्वर्ग का रचयिता है। बरोबर रचते हैं ब्रह्मा द्वारा, फिर ब्रह्माकुमार-कुमारी को ब्रह्मा द्वारा कहते हैं कि मुझे और वर्से (स्वर्ग) को याद करो। देह के सब सम्बन्धों को भूल जाओ। कहा जाता है ना – आप मुये मर गई दुनिया। आत्मा शरीर से अलग हो जाती है तो कुछ भी नहीं रहता। देह का अभिमान निकल जाता है। हम बाबा के पास आये हैं, फिर हम गोरा बनेंगे। अभी श्याम हैं। श्याम और सुन्दर बनने का यह नाटक है। आत्मा प्योर हसीन बनती है। अभी तुम्हारी आत्मा आइरन एजड बन गई है, तो शरीर भी ऐसे हैं। सतयुग में तुम गोरे थे। एक हसीन मुसाफिर आते हैं गोरा बनाने। उनकी आत्मा तो सदैव गोरी है। कभी खाद नहीं पड़ती है क्योंकि वह जन्म-मरण में नहीं आते हैं। कितना सहज कर समझाते हैं! फिर भी ऐसे दादे को भूल कर फ़ारकती दे देते हैं इसलिए बाबा कहते हैं महान् से महान् मूर्ख और फिर सयाने से सयाने देखने हो तो यहाँ देखो। मूर्ख भी ऐसे हैं जो अति सहज दो बातें भी समझ नहीं सकते। सिर्फ समझना है – हम आत्मा हैं, वह निराकार परमात्मा हमारा दादा है। यह प्रजापिता ब्रह्मा तो नामीग्रामी है। उन द्वारा शिवबाबा वर्सा देते हैं। ब्रह्मा को छोड़ा, दादे को भी छोड़ा तो वर्सा खत्म हो जायेगा। बाबा कितना सहज करके समझाते हैं! हम हैं ब्रह्माकुमार-कुमारियां। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर हैं सूक्ष्मवतनवासी। उसमें भी ब्रह्मा को प्रजापिता कहते हैं। सूक्ष्मवतन में तो मनुष्य सृष्टि नहीं रची जाती। शंकर वा विष्णु को प्रजापिता नहीं कह सकते। प्रजा का पिता तो जरूर यहाँ होगा। ब्रह्मा के मुख कमल से ब्राह्मण निकले। ब्राह्मणों से पूछो – तुम किसकी वंशावली हो? यह सिर्फ गायन हो गया है, बाकी ऐसे है नहीं।

अभी तुम जानते हो परमपिता परमात्मा ब्रह्मा द्वारा देवता, क्षत्रिय धर्म स्थापन करते हैं सो तो करेंगे संगमयुग पर। संगमयुग पर ब्राह्मण जरूर चाहिए। कलियुग अन्त में हैं शूद्र। तुम बच्चों को कितना अच्छी रीति समझाया जाता है! श्रीमत तो मशहूर है। श्रीमत भगवत गीता। उनसे क्या सुनना होता है? श्री श्री ने ज्ञान सुनाया होगा, श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ बनाया होगा। अभी तुम प्रैक्टिकल में बी.के. बने हो। तुम कहते हो – बापदादा, हम कल्प पहले भी आपसे मिले थे। हम दादे से अपना वर्सा लेने लिए आये हैं। अच्छा, उससे क्या बने थे – सूर्यवंशी वा चन्द्रवंशी? श्री नारायण को वरा था या श्री राम को? कहते हैं – बाबा, हम तो श्री नारायण को वरेंगे। परन्तु फिर भूल जाते हैं, जो इतना लायक बनाते हैं उनको भूल जाते हैं। दादे को व बाप को शल कोई भी न भूले। झट फ़ारकती दे देते हैं, याद नहीं करते हैं। ज्ञान के दो अक्षर धारण नहीं करते। हम सतगुरू पोत्रे अथवा दादे पोत्रे हैं। उनसे वर्सा लेते हैं पुरुषार्थ से। लौकिक बाप का वर्सा अथवा प्रापर्टी तो बांटी जाती है। यहाँ बांटने की चीज़ नहीं, इसमें तो पुरुषार्थ करना पड़ता है। कोई मून आदि में प्लाट नहीं खरीद करना है। यहाँ तो राजाई के मालिक बनते हो। पार्ट तो यहाँ ही बजाना है। मून आदि में नहीं जाना है, इसको साइन्स घमण्ड कहा जाता है। अति घमण्ड में जाने से विनाश को प्राप्त करते हैं। क्या-क्या निकल पड़ा है! हजारों-लाखों माइल तक जाते हैं। उन्हों को मालूम पड़ता है – अभी यह कहाँ तक पहुँचा है? ऊपर चन्द्रमा में क्या है? चन्दमा तो शीतल है ना। सूर्य के आगे जाने से तप जायेंगे। कितना साइन्स घमण्ड है। नाम भी रखा है रॉकेट। बाबा ने समझाया है – आत्मा सबसे बड़ा रॉकेट है। है तो एक ही बिन्दी। उसका क्या वज़न होगा? बिन्दी में कितनी सारी नॉलेज है! एक सेकेण्ड में कहाँ से कहाँ उड़ जाती है। बाबा को याद किया और सेकेण्ड में उड़े। यह भी शुरूड (तीक्ष्ण) बुद्धि ही समझकर समझा सकते हैं। शिवबाबा भी बिन्दी है। लिंग स्वरूप कहने से कहेंगे इतनी बड़ी आत्मा तो होती नहीं, न परमात्मा ही ऐसा होता। वह फिर कहते हैं – परमात्मा तो ब्रह्म है। कुछ भी समझ न सकें। जब तक कोई सम्मुख न आये तब तक परमात्मा के नाम-रूप आदि को समझ न सके। हम भल शिवबाबा का चित्र दिखाते हैं परन्तु ऐसा है नहीं। वह तो बिन्दी रूप है, लेकिन बिन्दी की पूजा कैसे करेंगे, फूल आदि कैसे चढ़ायेंगे? तो यह भक्ति मार्ग चला आया है, पूजा के लिए मन्दिर में बड़ा रूप बना दिया है।

अच्छा, बाबा कहते हैं किसकी बुद्धि में यह ज्ञान न बैठे फिर भी यह तो समझ सकते हो ना कि हम ब्रह्माकुमार-कुमारी हैं, दादे पोत्रे हैं। ऊंच ते ऊंच शिव भगवान् है। उनकी रचना को तो गॉड फादर नहीं कहेंगे। हम हैं उनके पोत्रे। वह कहते हैं मैं तुमको स्वर्ग का मालिक बनाता हूँ। तुम भी जानते हो हम अभी तमोप्रधान सांवरे हैं। बाबा से सतोप्रधान गोरे बन रहे हैं। राम भी गोरा था। परन्तु कृष्ण से दो कला कम। वह भी अब काला हो गया है। कृष्ण के लिए तो कहते हैं सर्प ने डसा। लेकिन ऐसी कोई बातें हैं नहीं। यह तो काम चिता पर चढ़ने से काले बन जाते हैं। श्याम और सुन्दर बनते हैं। अब फिर सतोप्रधान बनने लिए बाप को याद करना है। एक मुसाफिर कितने को हसीन बनाते हैं, विश्व का मालिक बनाते हैं! सिर्फ कहते हैं – मुझ बाप को याद करो। नहीं तो वर्सा कैसे मिलेगा? विकर्म विनाश के लिए योग अग्नि चाहिए। घड़ी-घड़ी याद करना है। कई समझते हैं – हम बच्चे तो हैं ना। परन्तु सारा दिन याद नहीं करेंगे तो विकर्म विनाश नहीं होंगे, खुशी का पारा नहीं चढ़ेगा। 20-25 वर्ष वालों को भी यह बात बुद्धि में नहीं बैठती। भूल जाते हैं। फिर पुरानी दुनिया में जाकर तकदीर को लकीर लगा देते हैं। माँ-बाप की गोद में आने से ही तकदीर शुरू होती है। मम्मा-बाबा कहने से स्वर्ग के ह़कदार तो बने ना। प्रजा भी कहती है ना – हमारा हिन्दुस्तान सबसे ऊंचा। अरे, सबसे ऊंच होता तो फिर कर्जा क्यों उठाते, कंगाल क्यों बनते? यहाँ से बहुत धन ले गये हैं। कारखानों से पैदाइस होती है। कारखाना न निकालें तो कोई को नौकरी न मिल सके। नौकरी न मिले तो पालना कैसे करें? दु:खी हो पड़े हैं इसलिए भारत के लिए कितनी युक्ति रची हुई है। बच्चों को बहुत दु:ख न हो उसके लिए यह युक्ति है। यहाँ से कितने बाहर जाते हैं नौकरी करने, क्योंकि वहाँ पैसे बहुत मिलते हैं। बाप कहते हैं हमारा तो कांटों पर भी प्यार है। सब पतितों को आकर पावन करता हूँ। कांटों पर भी प्यार है तो कांटों से जो फूल बनते हैं उन पर भी प्यार है। ड्रामा अनुसार सबको सद्गति देता हूँ। सबका सद्गति दाता राम…….. तो सबका प्यारा हुआ ना। उसमें कांटे भी हैं, फूल भी हैं। कायदे अनुसार स्वर्ग की स्थापना होती है तो उसके लिए लायक भी बनाते हैं। कहते हैं ना – पतित-पावन आओ, आकर पावन बनाओ। अभी तुम जानते हो पतित-पावन बाप आया है। भारत को ख़ास और दुनिया को आम पावन बनाते हैं। सर्वोदया लीडर नाम रखाया है। यह भी अपने पर नाम रख दिया है, जैसे श्री श्री 108 कहलाते हैं। सर्व माना सब। कोई भी मनुष्य तो सबकी सद्गति कर न सके। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) देहभान को भूलने के लिए जीते जी मरना है। आप मुये मर गई दुनिया। बार-बार इस देह से न्यारा होने की प्रैक्टिस करनी है।

2) हम दादे पोत्रे हैं। हमें लायक बन उनसे पूरा-पूरा वर्सा लेना है। आत्मा को योगबल से पावन बनाना है। खुशी में रहना है।

वरदान:- बाप के कदम पर कदम रखते हुए परमात्म दुआयें प्राप्त करने वाले आज्ञाकारी भव
आज्ञाकारी अर्थात् बापदादा के आज्ञा रूपी कदम पर कदम रखने वाले। ऐसे आज्ञाकारी को ही सर्व संबंधों से परमात्म दुआयें मिलती हैं। यह भी नियम है। साधारण रीति भी कोई किसी के डायरेक्शन प्रमाण हाँ जी कहकर कार्य करते हैं तो जिसका कार्य करते उसकी दुआयें उनको जरूर मिलती हैं। यह तो परमात्म दुआयें हैं जो आज्ञाकारी आत्माओं को सदा डबल लाइट बना देती हैं।
स्लोगन:- दिव्यता और अलौकिकता को अपने जीवन का श्रंगार बना लो तो साधारणता समाप्त हो जायेगी।
Font Resize