12 september ki murli

TODAY MURLI 12 SEPTEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 12 September 2020

12/09/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, when you remain constantly aware that you are establishing your golden-aged kingdom by following shrimat, you will experience infinite happiness.
Question: Which children are unable to digest this food of knowledge?
Answer: Those who make mistakes; those who become dirty and impure and then come and sit in class are unable to digest this knowledge. They can never say: God speaks: Lust is the greatest enemy. Their consciences will continue to bite them inside and they will become those of the Devil’s community.

Om shanti. The Father sits here and explains to you spiritual children. Which Father is He? You children have to praise that Father. It is remembered: Shiv Baba, the Truth; Shiva, the True Teacher; Shiva, the true Guru. He is the Truth, is He not? You children know that you have found Shiv Baba, the Truth. You children are now becoming those who follow the directions of One according to shrimat. Therefore, you have to follow shrimat. The Father says: Firstly, become soul conscious and remember the Father. The more you remember Him, the more you will benefit yourself. You are establishing your own kingdom once again. It was your kingdom previously. We, who belong to the deity religion, take 84 births and are now at the confluence age in our final birth. No one, but you children, knows about this most elevated confluence age. Baba gives you so many points: Children, if you stay in remembrance very well you remain very happy. However, instead of remembering the Father, some children get caught up in worldly matters. Remember that you are establishing your own kingdom according to shrimat. God has been remembered as the Highest on High. His directions (shrimat) are the most elevated. What does shrimat teach you? Easy Raja Yoga. He is teaching you how to attain the kingdom. You have come to know the beginning, middle and end of the world from your Father and you now also have to imbibe divine virtues. Never oppose the Father! Many children consider themselves to be serviceable and become very arrogant. There are many children like that but they are sometimes defeated and their intoxication then disappears. You mothers are illiterate. If you were literate you would show wonders. Amongst the men, there are some who are educated. You kumaris should glorify Baba’s name so much. You previously established the kingdom according to shrimat; you changed from ordinary women into Lakshmi. Therefore, you should have so much intoxication. Here, people sacrifice their lives for a study worth a few pennies. Oh! but you are becoming beautiful! So, why do you attach your hearts to ugly and impure ones? You mustn’t attach your hearts to this graveyard. You are claiming your inheritance from the Father. To attach your heart to the old world means to go to the depths of hell. The Father has come to remove you from hell. So why, in spite of that, do you turn your faces towards hell? This study of yours is so easy. None of the rishis or munis know this. No teacher or rishi or muni can explain this to you. The Father is also your Teacher and your Guru. Those gurus relate the scriptures; they shouldn’t be called teachers. None of them say that they can relate the history and geography of the world. They only relate things from the scriptures. The Father explains to you the essence of the scriptures and also tells you the world history and geography. Is this Teacher good or is that teacher good? No matter how much you study with that teacher, how much would you be able to earn? And, that also depends on your fortune! If, while studying, someone has an accident and dies, all of that studying would be finished. No matter how much or how little you study this study here, none of it will go to waste. Yes, if someone doesn’t follow shrimat but performs wrong actions or falls into the gutter, the things he studied do not finish because this study is for 21 births. However, if he falls, there is a great deal of loss for cycle after cycle. The Father says: Children, don’t dirty your faces. There are many who dirty their faces; they become dirty and then come and sit here. They would never be able to digest this knowledge; they would have indigestion. Whatever they hear would cause them indigestion. They would be unable to tell anyone: God speaks: Lust is the greatest enemy and you have to conquer it. If they haven’t conquered it themselves, how can they tell others? Their consciences would bite them inside. They are called those who belong to the Devil’s community. While drinking nectar, they drink poison, and so they become one hundred per cent ugly and every bone of theirs is crushed. The gathering of you mothers should be very good. Your aim and objective is in front of you. You know that there was the one deity religion in the kingdom of Lakshmi and Narayan. There was one kingdom, one language, one hundred per cent puritypeace and prosperity. The Father is now establishing that one kingdom. That is the aim and objective. One hundred percent purity, peace, happiness and prosperity are now being established. You show that Shri Krishna will come after destruction. Write this very clearly. The one golden-aged kingdom of the deities of one language, purity, peace and happiness is once again being established. The Government wants this. Heaven exists in the golden and silver ages, but people don’t consider themselves to be residents of hell. You can write: In the copper and iron ages everyone is a resident of hell. You are now at the confluence age. Previously, you too were iron-aged residents of hell. You are now becoming residents of heaven. You are making Bharat into heaven by following shrimat. However, courage and unity are needed. When you go on a tour, show the picture of Lakshmi and Narayan; it is very good. On it, write: The original, eternal, deity religion and the kingdom of peace and happiness are being established according to the shrimat of Trimurti Shiv Baba. Have large pictures with big writing on them. Small children prefer small pictures. The bigger the pictures, the better! The picture of Lakshmi and Narayan is very good. You must simply write on that: The one Trimurti Shiv Baba, the Truth; Trimurti Shiva, the true Teacher; Trimurti Shiva, the true Guru. If you don’t write the word “Trimurti” they would wonder how, since God is incorporeal, He could be the Teacher. They don’t have knowledge. Make pictures of Lakshmi and Narayan on tin and place them everywhere. Establishment is taking place. The Father has come to establish the one religion through Brahma and He will destroy everything else. You children should always have this intoxication. When some of you are unable to come to the same decision about a trivial matter, you very quickly get upset. This happens all the time. Some would be on one side and others on another side. Then the opinion of the side that has the majority is taken up. There is no need to get upset over that. However, some children sometimes sulk because their ideas are not accepted. But what is there to sulk about in that? The Father consoles everyone. Maya has made everyone sulk. Everyone is sulking with the Father. Since they don’t even know the Father, why should they sulk? They don’t know the Father who gave them the sovereignty of heaven. The Father says: I uplift you all and you then defame Me! Look at the condition of Bharat! Among you too, there are very few who remain intoxicated. This is the intoxication of becoming Narayan. You mustn’t say that you will become Rama or Sita. Your aim and objective is to change from an ordinary human into Narayan. How could you then become happy with becoming Rama or Sita? You have to show that you have courage. You mustn’t attach your hearts to the old world at all. Anyone who attaches his or her heart to anyone will die. There will then be a great loss for birth after birth. You are to receive the happiness of heaven from Baba. In that case, why should we still be in hell? The Father says: When you were in heaven, there were no other religions. Now, according to the drama, your religion doesn’t exist. No one thinks of himself as belonging to the deity religion. What can be said if a human being doesn’t know his own religion? Hinduism is not a religion. They don’t even know who established it. So much is explained to you children. The Father says: I, the Death of all Deaths, have now come to take everyone back home. All of those who study well will become the masters of the world. Let’s go home now! This place is not worth living in. Through devilish dictates being followed, a lot of rubbish is created. The Father would say this, would He not? You people of Bharat, who were the masters of the world, are now stumbling around so much. Aren’t you ashamed? There are some among you who understand this very well, it is numberwise, after all. Many children are still asleep. Their mercury of happiness doesn’t rise. Baba is giving us the kingdom once again. The Father says: I uplift these sages etc. They can neither grant liberation to themselves nor to others. The true Guru is only the one Satguru who comes at the confluence age to grant salvation to everyone. The Father says: I come at the confluence age of every cycle when I have to purify the whole world. People believe that because the Father is the Almighty Authority, there is nothing He cannot do. Oh! But, you impure ones call out to Me to come and make you pure. Therefore, I come and purify everyone. What else would I do? There are many who have occult power. My task is to change hell into heaven. That is created every 5000 years. Only you know this. The original eternal religion is that of the deities; all other religions come later. Aurobindo Ghose started his ashram recently (1926). Now, look how many ashrams of his there are! There, there is no question of becoming viceless. They believe that no one can remain pure whilst living at home in a family. The Father says: Whilst living at home with your family, remain pure for just one birth. You have been impure for birth after birth. I have now come to purify you. Become pure for this last birth. There are no vices in the golden and silver ages. The pictures of Lakshmi and Narayan and the ladder are very good. It is written on them: There was one religion and one kingdom in the golden age. You need to explain in the right way. You must also teach and prepare the old mothers so that they too can explain at exhibitions. They should show this picture to everyone and tell them: It used to be their kingdom, but it no longer exists. The Father says: Now remember Me and you will become pure and go to the pure world. The pure world is now being established. It is so easy! When you old mothers sit and explain at the exhibitions your name will then be glorified. The writing on the picture of Krishna is very good. You should tell them: You must definitely read this writing. Only by reading this will you have the intoxication of becoming like Narayan and the masters of the world. The Father says: I am making you become like Lakshmi and Narayan. Therefore, you should also be merciful to others. Only when you benefit others can you bring benefit to yourself. Teach the old mothers in this way and make them clever, so that when Baba asks for eight to ten old women to come to explain at the exhibitions, they instantly come running. Those who do something will receive the return of it. When you see your aim and objective in front of you, you have great happiness. I will renounce this body and become a master of the world. You will be absolved of your sins according to how much you stay in remembrance. On the envelopes, it is printed: One religion, one deity kingdom and one language. That will very soon be established. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Never sulk among yourselves or with the Father. The Father has come to console you. Therefore, never get upset. Never oppose the Father.
  2. Don’t attach your heart to the old world or an old body. Remain true to the true Father, the true Teacher and the Satguru. Constantly follow the shrimat of the One and be soul conscious.
Blessing: May you be constantly powerful and know the value of your life with the awareness of being an original jewel.
Just as Brahma is Adi Dev, in the same way, Brahma Kumars and Kumaris are original jewels. Each child of Adi Dev is a master Adi Dev. By considering yourself to be an original jewel you will be able to know the value of your life because original jewels means jewels of Prabhu, jewels of God, and so you have become so valuable. So, always consider yourself to be a master Adi Dev, the child of Adi Dev, an original jewel, as you perform every action and you will receive the blessing of being powerful. Nothing can then go to waste.
Slogan: A knowledgeable soul with discernment is able to save himself from being deceived.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 12 SEPTEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 September 2020

Murli Pdf for Print : – 

12-09-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – सदा यही स्मृति रहे कि हम श्रीमत पर अपनी सतयुगी राजधानी स्थापन कर रहे हैं, तो अपार खुशी रहेगी”
प्रश्नः- यह ज्ञान का भोजन किन बच्चों को हज़म नहीं हो सकता है?
उत्तर:- जो भूलें करके, छी-छी (पतित) बनकर फिर क्लास में आकर बैठते हैं, उन्हें ज्ञान हज़म नहीं हो सकता। वह मुख से कभी भी नहीं कह सकते कि भगवानुवाच काम महाशत्रु है। उनका दिल अन्दर ही अन्दर खाता रहेगा। वह आसुरी सम्प्रदाय के बन जाते हैं।

ओम् शान्ति। बाप बैठ रूहानी बच्चों को समझाते हैं, वह कौन-सा बाप है, उस बाप की महिमा तुम बच्चों को करनी है। गाया भी जाता है सत् शिवबाबा, सत् शिव टीचर, सत् शिव गुरू। सच तो वह है ना। तुम बच्चे जानते हो हमको सत्य शिवबाबा मिला है। हम बच्चे अब श्रीमत पर एक मत बन रहे हैं। तो श्रीमत पर चलना चाहिए ना। बाप कहते हैं एक तो देही-अभिमानी बनो और बाप को याद करो। जितना याद करेंगे, अपना कल्याण करेंगे। तुम अपनी राजधानी स्थापन कर रहे हो फिर से। आगे भी हमारी राजधानी थी। हम देवी-देवता धर्म वाले ही 84 जन्म भोग, अन्तिम जन्म में अभी संगम पर हैं। इस पुरूषोत्तम संगमयुग का सिवाए तुम बच्चों के और कोई को पता नहीं है। बाबा कितनी प्वाइंट्स देते हैं-बच्चे, अगर अच्छी रीति याद में रहेंगे तो बहुत खुशी में रहेंगे। परन्तु बाप को याद करने के बदले और दुनियावी बातों में पड़ जाते हैं। यह याद रहनी चाहिए कि हम श्रीमत पर अपना राज्य स्थापन कर रहे हैं। गाया भी हुआ है ऊंच ते ऊंच भगवान, उनकी ही ऊंच ते ऊंच श्रीमत है। श्रीमत क्या सिखलाती है? सहज राजयोग। राजाई के लिए पढ़ा रहे हैं। अपने बाप के द्वारा सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानकर फिर दैवीगुण भी धारण करने हैं। बाप का कभी सामना नहीं करना चाहिए। बहुत बच्चे अपने को सर्विसएबुल समझ अहंकार में आ जाते हैं। ऐसे बहुत होते हैं। फिर कहाँ-कहाँ हार खा लेते हैं तो नशा ही उड़ जाता है। तुम मातायें तो अनपढ़ी हो। पढ़ी हुई होती तो कमाल कर दिखाती। पुरूषों में फिर भी पढ़े लिखे कुछ हैं। तुम कुमारियों को कितना नाम बाला करना चाहिए। तुमने श्रीमत पर राजाई स्थापन की थी। नारी से लक्ष्मी बनी थी तो कितना नशा रहना चाहिए। यहाँ तो देखो पाई पैसे की पढ़ाई में जान कुर्बान कर रहे हैं। अरे तुम गोरे बनते हो फिर काले, तमोप्रधान से क्यों दिल लगाते हो। इस कब्रिस्तान से दिल नहीं लगानी है। हम तो बाप से वर्सा ले रहे हैं। पुरानी दुनिया से दिल लगाना माना जहन्नुम (नर्क, दोज़क) में जाना है। बाप आकर दोज़क से बचाते हैं फिर भी मुंह दोज़क तरफ क्यों कर देते। तुम्हारी यह पढ़ाई कितनी सहज है। कोई ऋषि-मुनि नहीं जानते। न कोई टीचर, न कोई ऋषि-मुनि समझा सकते हैं। यह तो बाप-टीचर-गुरू भी है। वो गुरू लोग शास्त्र सुनाते हैं। उनको टीचर नहीं कहेंगे वह कोई ऐसे नहीं कहते कि हम दुनिया की हिस्ट्री-जॉग्राफी सुनाते हैं। वह तो शास्त्रों की बातें ही सुनायेंगे। बाप तुमको शास्त्रों का सार समझाते हैं और फिर वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी भी बतलाते हैं। अब यह टीचर अच्छा या वह टीचर अच्छा? उस टीचर से तुम कितना भी पढ़ो, क्या कमायेंगे? सो भी नसीब। पढ़ते-पढ़ते कोई एक्सीडेंट हो जाए, मर जाए तो पढ़ाई खत्म। यहाँ तुम यह पढ़ाई जितनी भी पढ़ेंगे, वह व्यर्थ जायेगी नहीं। हाँ, श्रीमत पर न चल कुछ उल्टा चल पड़ते या गटर में जाकर गिर पड़ते तो जितना पढ़ा वह कोई चला नहीं जाता, यह पढ़ाई तो 21 जन्मों के लिए है। परन्तु गिरने से कल्प-कल्पान्तर का घाटा बहुत-बहुत पड़ जाता है। बाप कहते हैं – बच्चे, काला मुंह नहीं करो। ऐसे बहुत हैं जो काला मुंह करके, छी-छी बनकर फिर आकर बैठ जाते हैं। उनको कभी यह ज्ञान हज़म नहीं होगा। बद-हाजमा हो जाता है। जो सुनेगा वह बद-हाजमा हो जायेगा, फिर मुख से किसको कह न सके कि भगवानुवाच काम महाशत्रु है, उन पर जीत पानी है। खुद ही जीत नहीं पाते तो औरों को कैसे कहेंगे! अन्दर खायेगा ना! उनको कहा जाता है आसुरी सम्प्रदाय, अमृत पीते-पीते विष खा लेते हैं तो 100 गुणा काले बन जाते हैं। हड्डी-हड्डी टूट जाती है।

तुम माताओं का संगठन तो बहुत अच्छा होना चाहिए। एम ऑब्जेक्ट तो सामने हैं। तुम जानते हो इन लक्ष्मी-नारायण के राज्य में एक देवी-देवता धर्म था। एक राज्य, एक भाषा, 100 परसेन्ट प्योरिटी, पीस, प्रासपर्टी थी। उस एक राज्य की ही बाप अभी स्थापना कर रहे हैं। यह है एम ऑब्जेक्ट। 100 परसेन्ट पवित्रता, सुख, शान्ति, सम्पत्ति की स्थापना अब हो रही है। तुम दिखाते हो विनाश के बाद श्रीकृष्ण आ रहा है। क्लीयर लिख देना चाहिए। सतयुगी एक ही देवी-देवताओं का राज्य, एक भाषा, पवित्रता, सुख, शान्ति फिर से स्थापन हो रही है। गवर्मेन्ट चाहती है ना। स्वर्ग होता ही है सतयुग-त्रेता में। परन्तु मनुष्य अपने को नर्क-वासी समझते थोड़ेही हैं। तुम लिख सकते हो – द्वापर-कलियुग में सब नर्कवासी हैं। अभी तुम संगमयुगी हो। आगे तुम भी कलियुगी नर्कवासी थे, अब तुम स्वर्गवासी बन रहे हो। भारत को स्वर्ग बना रहे हैं श्रीमत पर। परन्तु वह हिम्मत, संगठन होना चाहिए। चक्कर पर जाते हैं तो यह चित्र लक्ष्मी-नारायण का ले जाना पड़े। अच्छा है। इसमें लिख दो आदि सनातन देवी-देवता धर्म, सुख-शान्ति का राज्य स्थापन हो रहा है – त्रिमूर्ति शिवबाबा की श्रीमत पर। ऐसे-ऐसे बड़े-बड़े अक्षर में बड़े-बड़े चित्र हों। छोटे बच्चे छोटे चित्र पसन्द करते हैं। अरे, चित्र तो जितना बड़ा हो उतना अच्छा। यह लक्ष्मी-नारायण का चित्र तो बहुत अच्छा है। इसमें सिर्फ लिखना है एक ही सत्य त्रिमूर्ति शिवबाबा, सत्य त्रिमूर्ति शिव टीचर, सत्य त्रिमूर्ति शिव गुरू। त्रिमूर्ति अक्षर नहीं लिखेंगे तो समझेंगे परमात्मा तो निराकार है, वह टीचर कैसे हो सकता है। ज्ञान तो नहीं है ना। लक्ष्मी-नारायण का चित्र टीन की सीट पर बनाकर हर एक जगह पर रखना है, यह स्थापना हो रही है। बाप आये हैं ब्रह्मा द्वारा एक धर्म की स्थापना बाकी सबका विनाश करा देंगे। यह बच्चों को सदैव नशा रहना चाहिए। थोड़ी-थोड़ी बात में एक मत नहीं मिलती है तो झट बिगड़ जाते हैं। यह तो होता ही है। कोई किस तरफ, कोई किस तरफ, फिर मैजारिटी वाले को उठाया जाता है, इसमें रंज होने की बात नहीं। बच्चे रूठ पड़ते हैं। हमारी बात मानी नहीं गई। अरे, इसमें रूठने की क्या बात है। बाप तो सबको रिझाने वाला है। माया ने सबको रूसा दिया है, सब बाप से रूठे हुए हैं, रूठे भी क्या – बाप को जानते ही नहीं। जिस बाप ने स्वर्ग की बादशाही दी उनको जानते ही नहीं। बाप कहते हैं मैं तुम पर उपकार करता हूँ। तुम फिर मुझ पर अपकार करते हो। भारत का हाल देखो क्या है। तुम्हारे में भी बहुत थोड़े हैं जिनको नशा रहता है। यह है नारायणी नशा। ऐसे थोड़ेही कहना चाहिए कि हम तो राम-सीता बनेंगे। तुम्हारी एम ऑब्जेक्ट ही है नर से नारायण बनना। तुम फिर राम सीता बनने में खुश हो जाते हो, हिम्मत दिखानी चाहिए ना। पुरानी दुनिया से बिल्कुल दिल नहीं लगानी चाहिए। कोई से दिल लगाई और मरे। जन्म-जन्मान्तर का घाटा पड़ जायेगा। बाबा से तो स्वर्ग के सुख मिलते हैं फिर हम नर्क में क्यों पड़ें। बाप कहते हैं तुम जब स्वर्ग में थे तो और कोई धर्म नहीं था। अभी ड्रामा अनुसार तुम्हारा धर्म है नहीं। कोई भी अपने को देवता धर्म का नहीं समझते हैं। मनुष्य होकर भी अपने धर्म को न जानें तो क्या कहा जाए। हिन्दू कोई धर्म थोड़ेही है। किसने स्थापन किया, यह भी नहीं जानते। तुम बच्चों को कितना समझाया जाता है। बाप कहते हैं मैं कालों का काल अब आया हूँ – सबको वापिस ले जाने। बाकी जो अच्छी रीति पढ़ेंगे वह विश्व का मालिक बनेंगे। अब चलो घर। यहाँ रहने लायक नहीं है, बहुत किचड़ा कर दिया है – आसुरी मत पर चलकर। बाप तो ऐसे कहेंगे ना। तुम भारतवासी जो विश्व के मालिक थे, अब कितने धक्के खाते रहते हो। लज्जा नहीं आती है। तुम्हारे में भी कोई हैं जो अच्छी रीति समझते हैं। नम्बरवार तो हैं ना। बहुत बच्चे तो नींद में रहते हैं। वह खुशी का पारा नहीं चढ़ता है। बाबा हमको फिर से राजधानी देते हैं। बाप कहते हैं – इन साधुओं आदि का भी मैं उद्धार करता हूँ। वह खुद न अपने को, न दूसरे को मुक्ति दे सकते हैं। सच्चा गुरू तो एक ही सतगुरू है, जो संगम पर आकर सबकी सद्गति करते हैं। बाप कहते हैं मैं आता हूँ कल्प के संगम युगे युगे, जबकि हमको सारी दुनिया को पावन बनाना है। मनुष्य समझते हैं बाप सर्वशक्तिमान् है, वह क्या नहीं कर सकते। अरे, मुझे बुलाते ही हो कि हम पतितों को पावन बनाओ तो मैं आकर पावन बनाता हूँ। बाकी और क्या करुँगा। बाकी तो रिद्धि-सिद्धि वाले बहुत हैं, मेरा काम ही है नर्क को स्वर्ग बनाना। वह तो हर 5 हज़ार वर्ष के बाद बनता है। यह तुम ही जानते हो। आदि सनातन है देवी-देवता धर्म। बाकी तो सब पीछे-पीछे आये हैं। अरविन्द घोस तो अभी आये तो भी देखो कितने उनके आश्रम बन गये हैं। वहाँ कोई निर्विकारी बनने की बात थोड़ेही है। वह तो समझते हैं गृहस्थ में रहते पवित्र कोई रह नहीं सकता। बाप कहते हैं गृहस्थ व्यवहार में रहते सिर्फ एक जन्म पवित्र रहो। तुम जन्म-जन्मान्तर तो पतित रहे हो। अब मैं आया हूँ तुमको पावन बनाने। यह अन्तिम जन्म पावन बनो। सतयुग-त्रेता में तो विकार होते ही नहीं।

यह लक्ष्मी-नारायण का चित्र और सीढ़ी का चित्र बहुत अच्छा है। इनमें लिखा हुआ है – सतयुग में एक धर्म, एक राज्य था। समझाने की बड़ी युक्ति चाहिए। बूढ़ी माताओं को भी सिखलाकर तैयार करना चाहिए, जो प्रदर्शनी में कुछ समझा सकें। कोई को भी यह चित्र दिखाकर बोलो इनका राज्य था ना। अभी तो है नहीं। बाप कहते हैं-अब तुम मुझे याद करो तो तुम पावन बनकर पावन दुनिया में चले जायेंगे। अब पावन दुनिया स्थापन हो रही है। कितना सहज है। बुढ़ियाँ बैठकर प्रदर्शनी पर समझायें तब नाम बाला हो। कृष्ण के चित्र में भी लिखत बहुत अच्छी है। बोलना चाहिए यह लिखत जरूर पढ़ो। इनको पढ़ने से ही तुमको नारायणी नशा अथवा विश्व के मालिकपने का नशा चढ़ेगा।

बाप कहते हैं मैं तुमको ऐसा लक्ष्मी-नारायण बनाता हूँ तो तुम्हें भी औरों पर रहमदिल बनना चाहिए। जब अपना कल्याण तब दूसरे का भी कर सकेंगे। बुढ़ियों को ऐसा सिखलाकर होशियार बनाओ जो प्रदर्शनी पर बाबा कहे कि 8-10 बुढ़ियों को भेजो तो झट आ जाएं। जो करेगा सो पायेगा। सामने एम ऑब्जेक्ट को देखकर ही खुशी होती है। हम यह शरीर छोड़ जाए विश्व के मालिक बनेंगे। जितना याद में रहेंगे उतना पाप कटेंगे। देखो लिफाफे पर छपा है – वन रिलीजन, वन डीटी किंगडम, वन लैंगवेज….. वह जल्दी स्थापन होगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कभी भी आपस में वा बाप से रूठना नहीं है, बाप रिझाने आये हैं इसलिए कभी रंज नहीं होना है। बाप का सामना नहीं करना है।

2) पुरानी दुनिया से, पुरानी देह से दिल नहीं लगानी है। सत बाप, सत टीचर और सतगुरू के साथ सच्चा रहना है। सदा एक की श्रीमत पर चल देही-अभिमानी बनना है।

वरदान:- आदि रत्न की स्मृति से अपने जीवन का मूल्य जानने वाले सदा समर्थ भव
जैसे ब्रह्मा आदि देव है, ऐसे ब्रह्माकुमार, कुमारियां भी आदि रत्न हैं। आदि देव के बच्चे मास्टर आदि देव हैं। आदि रत्न समझने से ही अपने जीवन के मूल्य को जान सकेंगे क्योंकि आदि रत्न अर्थात् प्रभू के रत्न, ईश्वरीय रत्न – तो कितनी वैल्यु हो गई इसलिए सदा अपने को आदि देव के बच्चे मास्टर आदि देव, आदि रत्न समझकर हर कार्य करो तो समर्थ भव का वरदान मिल जायेगा। कुछ भी व्यर्थ जा नहीं सकता।
स्लोगन:- ज्ञानी तू आत्मा वह है जो धोखा खाने से पहले परखकर स्वयं को बचा ले।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 12 SEPTEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 September 2019

To Read Murli 11 September 2019:- Click Here
12-09-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अन्दर में दिन रात बाबा-बाबा चलता रहे तो अपार खुशी रहेगी, बुद्धि में रहेगा बाबा हमें कुबेर का खजाना देने आये हैं”
प्रश्नः- बाबा किन बच्चों को ऑनेस्ट (ईमानदार) फूल कहते हैं? उनकी निशानी सुनाओ?
उत्तर:- ऑनेस्ट फूल वह है जो कभी भी माया के वश नहीं होते हैं। माया की खिटपिट में नहीं आते हैं। ऐसे ऑनेस्ट फूल लास्ट में आते भी फास्ट जाने का पुरुषार्थ करते हैं। वह पुरानों से भी आगे जाने का लक्ष्य रखते हैं। अपने अवगुणों को निकालने के पुरुषार्थ में रहते हैं। दूसरों के अवगुणों को नहीं देखते।

ओम् शान्ति। शिव भगवानुवाच। वह हुआ रूहानी बाप क्योंकि शिव तो सुप्रीम रूह है ना, आत्मा है ना। बाप तो रोज़-रोज़ नई-नई बातें समझाते रहते हैं। गीता सुनाने वाले सन्यासी आदि बहुत हैं। वह बाप को याद कर न सकें। ‘बाबा’ अक्षर कभी उनके मुख से निकल न सके। यह अक्षर है ही गृहस्थ मार्ग वालों के लिए। वह तो हैं निवृत्ति मार्ग वाले। वह ब्रह्म को ही याद करते हैं। मुख से कभी शिवबाबा नहीं कहेंगे। भल तुम जांच करो। समझो बड़े-बड़े विद्वान सन्यासी चिन्मियानंद आदि गीता सुनाते हैं, ऐसे नहीं कि वह गीता का भगवान कृष्ण को समझ उनसे योग लगा सकते हैं। नहीं। वह तो फिर भी ब्रह्म के साथ योग लगाने वाले ब्रह्म ज्ञानी वा तत्व ज्ञानी हैं। कृष्ण को कभी कोई बाबा कहे, यह हो नहीं सकता। तो कृष्ण गीता सुनाने वाला बाबा तो नहीं ठहरा ना। शिव को सब बाबा कहते हैं क्योंकि वह सब आत्माओं का बाप है। सब आत्मायें उनको पुकारती हैं – परमपिता परमात्मा। वह है सुप्रीम, परम है क्योंकि परमधाम में रहने वाला है। तुम भी सब परमधाम में रहते हो परन्तु उनको परम आत्मा कहते हैं। वह कभी पुनर्जन्म में नहीं आते हैं। खुद कहते हैं मेरा जन्म दिव्य और अलौकिक है। ऐसे कोई रथ में प्रवेश कर तुमको विश्व का मालिक बनने की युक्ति बताये, यह और कोई हो नहीं सकता। तब बाप कहते हैं – मैं जो हूँ, जैसा हूँ, मुझे कोई भी नहीं जानते। मैं जब अपना परिचय दूँ तब जान सकते हैं। यह ब्रह्म को अथवा तत्वों को मानने वाले, कृष्ण को फिर अपना बाप कैसे मानेंगे। आत्मायें तो सब बच्चे ठहरे ना। कृष्ण को सब पिता कैसे कहेंगे। ऐसे थोड़ेही कहेंगे कि कृष्ण सबका बाप है। हम सब ब्रदर्स हैं। ऐसे भी नहीं कृष्ण सर्वव्यापी है। सब कृष्ण थोड़ेही हो सकते हैं। अगर सब कृष्ण हों तो उनका बाप भी चाहिए। मनुष्य बहुत भूले हुए हैं। नहीं जानते हैं तब तो कहते हैं मुझे कोटों में कोई जानते हैं। कृष्ण को तो कोई भी जान लेंगे। सब विलायत वाले भी उनको जानते हैं। लॉर्ड कृष्णा कहते हैं ना। चित्र भी हैं, असली चित्र तो हैं नहीं। भारतवासियों से सुनते हैं, इनकी पूजा बहुत होती है तो फिर गीता में यह लिख दिया है – कृष्ण भगवान। अब भगवान को भला लॉर्ड कहा जाता है क्या। लॉर्ड कृष्णा कहते हैं ना। लॉर्ड का टाइटिल वास्तव में बड़े आदमी को मिलता है। वह तो सबको देते रहते हैं, इसको कहा जाता है अन्धेर नगरी….। कोई भी पतित मनुष्य को लॉर्ड कह देते हैं। कहाँ यह आज के पतित मनुष्य, कहाँ शिव वा श्रीकृष्ण! बाप कहते हैं जो तुमको ज्ञान देता हूँ वह फिर गुम हो जाता है। मैं ही आकर नई दुनिया स्थापन करता हूँ। ज्ञान भी मैं अभी ही देता हूँ। मैं जब ज्ञान दूँ तब ही बच्चे सुनें। मेरे बिगर कोई सुना न सके। जानते ही नहीं।

क्या सन्यासी शिवबाबा को याद कर सकते हैं? वह कह भी नहीं सकते कि निराकार गॉड को याद करो। कब सुना है? बहुत पढ़े-लिखे मनुष्य भी समझते नहीं हैं। अब बाप समझाते हैं कृष्ण भगवान नहीं। मनुष्य तो उनको ही भगवान कहते रहते हैं। कितना फ़र्क हो गया है। बाप तो बच्चों को बैठ पढ़ाते हैं। वह बाप, टीचर, गुरू भी है। शिवबाबा सबको बैठ समझाते हैं। न समझने कारण त्रिमूर्ति में शिव रखते ही नहीं। ब्रह्मा को रखते हैं, जिसको प्रजापिता ब्रह्मा कहते हैं। प्रजा को रचने वाला। परन्तु उनको भगवान नहीं कहेंगे। भगवान प्रजा नहीं रचते हैं। भगवान के तो सब आत्मायें बच्चे हैं। फिर कोई द्वारा प्रजा रचते हैं। तुमको किसने एडाप्ट किया? ब्रह्मा द्वारा बाप ने एडाप्ट किया। ब्राह्मण जब बनेंगे तब ही तो देवता बनेंगे। यह बात तो तुमने कभी सुनी नहीं है। प्रजापिता का भी जरूर पार्ट है। एक्ट चाहिए ना। इतनी प्रजा कहाँ से आयेगी। कुख वंशावली भी तो हो न सके। वह कुख वंशावली ब्राह्मण कहेंगे – हमारा सरनेम है ब्राह्मण। नाम तो सबका अलग-अलग है। प्रजापिता ब्रह्मा तो कहते ही तब हैं जब शिवबाबा इनमें प्रवेश करें। यह नई बातें हैं। बाप खुद कहते हैं – मुझे कोई जानते नहीं, सृष्टि चक्र को भी नहीं जानते। तब तो ऋषि-मुनि सब नेती-नेती कह गये हैं। न परमात्मा को, न परमात्मा की रचना को जानते हैं। बाप कहते हैं जब मैं आकर अपना परिचय दूँ तब ही जानें। इन देवताओं को वहाँ यह पता थोड़ेही पड़ता है – हमने यह राज्य कैसे पाया? इनमें ज्ञान होता ही नहीं। पद पा लिया फिर ज्ञान की दरकार नहीं। ज्ञान चाहिए ही सद्गति के लिए। यह तो सद्गति को पाये हुए हैं। यह बड़ी समझने की गुह्य बातें हैं। समझदार ही समझें। बाकी जो बूढ़ी-बूढ़ी मातायें हैं, उनमें इतनी बुद्धि तो है नहीं, वह भी ड्रामा प्लैन अनुसार हर एक का अपना पार्ट है। ऐसे तो नहीं कहेंगे – हे ईश्वर बुद्धि दो। सबको एक जैसी बुद्धि हम दें तो सब नारायण बन जायेंगे। सब एक-दो के ऊपर गद्दी पर बैठेंगे क्या! हाँ, एम ऑब्जेक्ट है यह बनने की। सब पुरुषार्थ कर रहे हैं नर से नारायण बनने का। बनेंगे तो पुरुषार्थ अनुसार ना। अगर सब हाथ उठायें – हम नारायण बनेंगे तो बाप को अन्दर में हंसी आयेगी ना। सब एक जैसे बन कैसे सकते! नम्बरवार तो होते हैं ना। नारायण दी फर्स्ट, सेकण्ड, थर्ड। जैसे एडवर्ड दी फर्स्ट, सेकण्ड, थर्ड….. होते हैं ना। भल एम ऑब्जेक्ट यह है, परन्तु खुद समझ सकते हैं ना – चलन ऐसी है तो क्या पद पायेंगे? पुरुषार्थ तो जरूर करना है। बाबा नम्बरवार फूल ले आते हैं, नम्बरवार फूल दे भी सकते हैं परन्तु ऐसे करते नहीं। फंक हो जायेंगे। बाबा जानते हैं, देखेंगे कौन जास्ती सर्विस कर रहे हैं, यह अच्छा फूल है। पीछे नम्बरवार तो होते ही हैं। बहुत पुराने भी बैठे हैं परन्तु उनमें नये-नये, बड़े-बड़े अच्छे फूल हैं। कहेंगे यह नम्बरवन ऑनेस्ट फूल है, कोई खिटपिट, ईर्ष्या आदि इनमें नहीं हैं। बहुतों में कुछ न कुछ खामियां जरूर हैं। सम्पूर्ण तो कोई को कह नहीं सकते। सोलह कला सम्पूर्ण बनने के लिए बहुत मेहनत चाहिए। अभी कोई सम्पूर्ण बन न सके। अभी तो अच्छे-अच्छे बच्चों में भी ईर्ष्या बहुत है। खामियां तो हैं ना। बाप जानते हैं सब किस-किस प्रकार का पुरुषार्थ कर रहे हैं। दुनिया वाले क्या जानें। वह तो कुछ समझते नहीं। बहुत थोड़े समझते हैं। गरीब झट समझ जाते हैं। बेहद का बाप आया हुआ है पढ़ाने। उस बाप को याद करने से हमारे पाप कट जायेंगे। हम बाप के पास आये हैं, बाबा से नई दुनिया का वर्सा जरूर मिलेगा। नम्बरवार तो होते ही हैं – 100 से लेकर एक नम्बर तक परन्तु बाप को जान लिया, थोड़ा भी सुना तो स्वर्ग में जरूर आयेंगे। 21 जन्मों के लिए स्वर्ग में आना कोई कम है क्या! ऐसे तो नहीं, कोई मरता है तो कहेंगे 21 जन्म के लिए स्वर्ग में गया। स्वर्ग है ही कहाँ। कितनी मिसअन्डरस्टैंडिंग कर दी है। बड़े-बड़े अच्छे लोग भी कहते हैं फलाना स्वर्ग पधारा। स्वर्ग कहते किसको हैं? अर्थ कुछ भी नहीं समझते। यह सिर्फ तुम ही जानते हो। हो तुम भी मनुष्य, परन्तु तुम ब्राह्मण बने हो। अपने को ब्राह्मण ही कहलाते हो। तुम ब्राह्मणों का एक बापदादा है। तो सन्यासियों से भी तुम पूछ सकते हो कि यह जो महावाक्य वा भगवानुवाच है कि देह सहित देह के सब धर्म छोड़ मामेकम् याद करो – क्या यह कृष्ण कहते हैं मामेकम् याद करो? तुम कृष्ण को याद करते हो क्या? कभी नहीं हाँ कहेंगे। वहाँ ही प्रसिद्ध हो जाए। परन्तु बिचारी अबलायें जाती हैं, वह क्या जानें। वह अपने फालोआर्स के आगे क्रोधित हो जाते हैं। दुर्वाषा का नाम भी है ना। उनमें अहंकार बहुत रहता है। फालोआर्स हैं ढेर। भक्ति का राज्य है ना। उनसे पूछने की कोई में ताकत नहीं रहती है। नहीं तो उनको कह सकते हैं तुम तो शिवबाबा की पूजा करते हो। अब भगवान किसको कहेंगे? क्या ठिक्कर भित्तर में भगवान है? आगे चल इन सब बातों को समझेंगे। अभी नशा कितना है। हैं सभी पुजारी। पूज्य नहीं कहेंगे।

बाप कहते हैं मेरे को विरला कोई जानते हैं। मैं जो हूँ, जैसा हूँ – तुम बच्चों में भी विरले कोई एक्यूरेट जानते हैं। उनको अन्दर में बहुत खुशी रहती है। यह तो समझते हैं ना – बाबा ही हमको स्वर्ग की बादशाही देते हैं। कुबेर के खजाने मिलते हैं। अल्लाह अवलदीन का भी खेल दिखाते हैं ना। ठका करने से खजाना निकल आया। बहुत खेल दिखाते हैं – खुदा दोस्त बादशाह क्या करते थे, उस पर भी कहानी है। पुल पर जो आता था उनको एक दिन की राजाई दे रवाना कर देता था। यह सब हैं कहानियां। अभी बाप समझाते हैं खुदा तुम बच्चों का दोस्त है, इनमें प्रवेश कर तुम्हारे साथ खाते पीते हैं, खेलते भी हैं। शिवबाबा का और ब्रह्मा बाबा का रथ एक ही है, तो जरूर शिवबाबा भी खेल तो सकते होंगे ना। बाप को याद कर खेलते हैं तो दोनों इसमें हैं। हैं तो दो ना – बाप और दादा। परन्तु कोई भी समझते नहीं हैं, कहते हैं रथ पर आये, तो वह फिर घोड़े-गाड़ी का रथ बना दिया है। ऐसे भी नहीं कहेंगे कृष्ण में शिवबाबा बैठ ज्ञान देते हैं। वह फिर कह देते हैं कृष्ण भगवानुवाच। ऐसे तो नहीं कहते ब्रह्मा भगवानुवाच। नहीं। यह है रथ। शिव भगवानुवाच। बाप बैठ तुम बच्चों को अपना और रचना के आदि-मध्य-अन्त का परिचय, ड्युरेशन बताते हैं। जो बात कोई भी नहीं जानते। सेन्सीबुल जो होंगे वह बुद्धि से काम लेंगे। सन्यासियों को तो सन्यास करना है। तुम भी शरीर सहित सब कुछ सन्यास करते हो, जानते हो यह पुरानी खल है, हमको तो अब नई दुनिया में जाना है। हम आत्मा यहाँ की रहने वाली नहीं हैं। यहाँ पार्ट बजाने आये हैं। हम रहवासी परमधाम के हैं। यह भी तुम बच्चे जानते हो वहाँ निराकारी झाड़ कैसा है। सभी आत्मायें वहाँ रहती हैं, यह अनादि ड्रामा बना हुआ है। कितनी करोड़ों जीव आत्मायें हैं। इतने सब कहाँ रहते हैं? निराकारी दुनिया में। बाकी यह सितारे तो आत्मा नहीं हैं। मनुष्यों ने तो इन सितारों को भी देवता कह दिया है। परन्तु वह कोई देवता है नहीं। ज्ञान सूर्य तो हम शिवबाबा को कहेंगे। तो उनको फिर देवता थोड़ेही कहेंगे। शास्त्रों में तो क्या-क्या बातें लिख दी हैं। यह है सब भक्ति मार्ग की सामग्री। जिससे तुम नीचे ही गिरते आये हो। 84 जन्म लेंगे तो जरूर नीचे उतरेंगे ना। अभी यह है आइरन एजड दुनिया। सतयुग को कहा जाता है गोल्डन एजड दुनिया। वहाँ कौन रहते थे? देवतायें। वह कहाँ गये – यह किसको भी पता नहीं है। समझते भी हैं पुनर्जन्म लेते हैं। बाप ने समझाया है पुनर्जन्म लेते-लेते देवता से बदल हिन्दू बन गये हैं। पतित बने हैं ना। और किसका भी धर्म बदली नहीं होता। इन्हों का धर्म क्यों बदली होता है – किसको पता नहीं। बाप कहते हैं धर्म भ्रष्ट, कर्म भ्रष्ट हो गये हैं। देवी-देवता थे तो पवित्र जोड़े थे। फिर रावण राज्य में तुम अपवित्र बन गये हो। तो देवी-देवता कहला न सके इसलिए नाम पड़ गया है हिन्दू। देवी-देवता धर्म कृष्ण भगवान ने नहीं स्थापन किया। जरूर शिवबाबा ने ही आकर किया होगा। शिव जयन्ती शिवरात्रि भी मनाई जाती है परन्तु उसने क्या आकर किया, यह किसको भी पता नहीं है। एक शिव पुराण भी है। वास्तव में शिव की एक गीता ही है, जो शिवबाबा ने सुनाई है, और कोई शास्त्र है नहीं। तुम कोई भी हिंसा नहीं करते हो। तुम्हारा कोई शास्त्र तो बनता नहीं। तुम नई दुनिया में चले जाते हो। सतयुग में कोई भी शास्त्र गीता आदि होता नहीं। वहाँ कौन पढ़ेंगे। वह तो कह देते यह वेद-शास्त्र आदि परम्परा से चले आते हैं। उन्हों को कुछ भी पता नहीं है। स्वर्ग में कोई शास्त्र आदि होता नहीं। बाप ने तो देवता बना दिया, सबकी सद्गति हो गई फिर शास्त्र पढ़ने की क्या दरकार है। वहाँ शास्त्र होते नहीं। अभी बाप ने तुम्हें ज्ञान की चाबी दी है, जिससे बुद्धि का ताला खुल गया है। पहले ताला एकदम बन्द था, कुछ भी समझते नहीं थे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) किसी से भी ईर्ष्या आदि नहीं करनी है। खामियां निकाल सम्पूर्ण बनने का पुरुषार्थ करना है। पढ़ाई से ऊंच पद पाना है।

2) शरीर सहित सब कुछ सन्यास करना है। किसी भी प्रकार की हिंसा नहीं करनी है। अहंकार नहीं रखना है।

वरदान:- मेरे को तेरे में परिवर्तन कर बेफिक्र बादशाह बनने वाले खुशी के खजाने से भरपूर भव
जिन बच्चों ने सब कुछ तेरा किया वही बेफिकर रहते हैं। मेरा कुछ नहीं, सब तेरा है…जब ऐसा परिवर्तन करते हो तब बेफिकर बन जाते हो। जीवन में हर एक बेफिकर रहना चाहता है, जहाँ फिकर नहीं वहाँ सदा खुशी होगी। तो तेरा कहने से, बेफिकर बनने से खुशी के खजाने से भरपूर हो जाते हो। आप बेफिकर बादशाहों के पास अनगिनत, अखुट, अविनाशी खजाने हैं जो सतयुग में भी नहीं होंगे।
स्लोगन:- खजानों को सेवा में लगाना अर्थात् जमा का खाता बढ़ाना।

TODAY MURLI 12 SEPTEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 12 September 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 11 September 2019:- Click Here

12/09/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, day and night, think, “Baba, Baba” within and you will experience limitless happiness. It will remain in your intellects that Baba is giving you the treasures of Kuber (a very wealthy king).
Question: Which children does Baba call honest flowers? Say what indicates such children.
Answer: Honest flowers are those who never become influenced by Maya. They do not have any conflict with Maya. Even if such honest flowers come last, they make effort to go fast. They keep the aim of going ahead of even the older ones. They stay busy in making effort to remove their defects. They do not see the defects of others.

Om shanti. God Shiva speaks. He is the spiritual Father because Shiva is the Supreme Spirit, the Supreme Soul. Every day, the Father explains new things to you. There are many sannyasis etc. who relate the Gita. They are not able to remember the Father. The word “Baba” cannot emerge from their lips. This word is for those on the family path whereas they belong to the path of isolation. They only remember the element of light. They never say “Shiv Baba”. You can go and check. When great knowledgeable sannyasis, such as Chiminyananda etc., relate the Gita, it isn’t that they consider Krishna to be the God of the Gita and have yoga with him. No; they only have yoga with the element of light. They have knowledge of the brahm element and the elements. It is not possible for anyone to call Krishna “Baba”. Therefore, Krishna is not the Baba who relates the Gita. Everyone calls Shiva “Baba” because he is the Father of all souls. All souls call out to Him: Supreme Father, Supreme Soul. He is the Supreme, the highest, because He resides in the supreme abode. All of you also reside in the supreme abode but He is called the Supreme Soul. He never takes rebirth. He, Himself, says: My birth is divine and unique. There is no one else who can enter a chariot and show you the way to become the masters of the world. This is why the Father says: No one knows Me as I am or what I am. It is only when I give My own introduction that you can come to know Me. How can those who believe in the element of light or the elements consider Krishna to be their Father? All souls are children. How could everyone call Krishna “Father”? It cannot be said that Krishna is everyone’s Father and that we are therefore all brothers, or that Krishna is omnipresent. Not everyone can be Krishna. If everyone were Krishna, they would also have to have a father. Human beings have forgotten everything. Because of them not knowing Him, it is said: Only a few out of multimillions know Me. Anyone can recognize Krishna. People from abroad also know him. They call him Lord Krishna. They also have an image of him, but, in fact, it is not an accurate image. They hear from the people of Bharat that he is worshipped a great deal. Therefore, it is written in the Gita: God Krishna. Can God be called Lord? They say: “Lord Krishna”. In fact, important people are given the title “Lord”. They give this to many. This is called the city of darkness. They call any impure person a lord. There is such a difference between impure people of today and Shiva or Shri Krishna. The Father says: The knowledge that I give you now will later disappear. It is I who come and establish the new world and it is I who now give you knowledge. It is only when I give knowledge that you children can listen to it. No one, apart from Me, can relate it. No one even knows it. Can those sannyasis remember Shiv Baba? They cannot even tell others to remember incorporeal God. Have you ever heard them say this? Even many well-educated people don’t understand anything. The Father now explains that Krishna is not God even though human beings continue to call him God. There is so much difference! The Father sits here and teaches you children. He is the Father, the Teacher and the Guru. Shiv Baba sits here and explains to everyone. Because of not understanding this, they have not shown Shiva in the Trimurti. They portray Brahma, who is called the Father of Humanity, the one who creates people. However, he is not called God. God does not create people, all souls are the children of God. He therefore has to create people through someone. Who adopted you? The Father adopted you through Brahma. It is only when you first become Brahmins that you can then become deities. You have never heard this aspect before. The Father of Humanity surely has a part; he surely has to act. Otherwise, where would so many people come from? They cannot be children born through vice. Those brahmins born through vice would say that their surname is “Brahmin”. Everyone’s name is different. Only after Shiv Baba enters him is Prajapita Brahma is called by that name. This is a new aspect. The Father Himself says: No one knows Me. No one knows the world cycle either. This is why the rishis and munis all say: Neti, neti. They neither know the Supreme Soul nor the creation of the Supreme Soul. The Father says: Only when I come and give My own introduction can they know Me. Those deities there do not know how they received their kingdom; they don’t have any of this knowledge. Once they have attained their status, there is no need for knowledge. Knowledge is needed for salvation. They will have already attained salvation. These are very deep matters that have to be understood. Only sensible ones will understand. However, the old mothers do not have as much wisdom. Each one of you has your own part according to the drama plan. They would not say: O God, give me a good intellect! If I were to give everyone the same intellect, everyone would become Narayan. Would everyone sit on the throne on top of each other? Yes, the aim and objective is to become that. Everyone is making effort to change from an ordinary human into Narayan; they will become that according to their efforts. If you all raised your hands to say that you will become Narayan, the Father would laugh internally. How can everyone become the same? They would all be numberwise. There is Narayan the First, the Second, the Third, just as there is Edward the First, the Second, the Third. Although you have the same aim and objective, each of you can understand for yourself what status you would claim if your activity remains as it is. You definitely have to make effort. Baba brings numberwise flowers, and He could also give them out, numberwise. However, He does not do that because some of you would lose hope. Baba knows and He also sees which ones do more service, which ones are good flowers. Then, all the rest are numberwise. There are many older ones sitting here but there are also some new, good flowers. He would say: This one is a number one honest flower. He does not have any conflict or jealousy etc. Many definitely still have one defect or another. No one can be called complete. You need to make a great deal of effort in order to become 16 celestial degrees full. No one can become complete yet. Even now, good children have a great deal of jealousy in them; they have defects. The Father knows what type of effort each of you is making. What do the people of the world know? They do not understand anything. Very few people understand. The poor understand quickly. The unlimited Father has come to teach you. By remembering that Father, your sins will be cut away. We have come to the Father. We will definitely receive the inheritance of the new world from Baba. It is numberwise, from one hundred to one, but, once you know the Father, once you listen to a little knowledge, you will definitely go to heaven. It is not a small thing to go to heaven for 21 births. It is not like they say when someone dies, that he goes to heaven for 21 births. Where is heaven? There is so much misunderstanding! Even good and important people say that So-and-so has gone to heaven. They don’t understand what they refer to when they say “heaven.” Only you know this. You are also human beings but you have become Brahmins. You call yourselves Brahmins. You Brahmins have one BapDada. Therefore, you could ask the sannyasis: The great versions spoken by God say, “Forget the body and the religions of the body and remember Me alone!” Was it Krishna who said, “Remember Me alone”? Is it Krishna you remember? They would never say “yes”. There would then be revelation. The poor innocent ones who go to them don’t know anything. They become angry in front of their followers. The name Durvasha (sage known for his anger) is remembered. They have a great deal of arrogance. They have many followers. It is the kingdom of the path of devotion. No one has the power to question them. Otherwise, you could ask them: You worship Shiv Baba, so whom do you call God? Is God in the pebbles and stones? Later on, they will come to understand all of these things. They now have so much intoxication. All of them are worshippers. They cannot be called worthy of worship. The Father says: Scarcely a few know Me. Out of you children too, only a few know Me accurately as I am and who I am. Internally, you experience a great deal of happiness. You understand that Baba is giving you the kingdom of heaven. You receive the treasures of Kuber. A play about Aladdin’s lamp is also shown. When the lamp is rubbed, huge treasures emerge. Many such plays are shown. There is also a story about what an emperor, whose friend was God, did. He would give his kingdom for a day to the first person who came on to the bridge. All of those are just stories. Now, the Father explains that God is the Friend of you children. He enters this one and eats, drinks and plays with you. The chariot of Shiv Baba and Brahma Baba is one and the same. Therefore, Shiv Baba must also surely play with you. When you remember the Father whilst playing, it means that both are in this one. There are two: Bap and Dada. However, no one understands this. They say that He came in a chariot and so they have portrayed a horse chariot. It cannot be said that Shiv Baba sits in Krishna and gives knowledge. They then say: God Krishna speaks. They do not say: God Brahma speaks”. No; this is the chariot. It is said: God Shiva speaks. The Father sits here and gives you His own introduction and tells you the beginning, the middle and the end of creation and its durationNo one else knows these things. Those who are sensible would use their intellects. Sannyasis have to renounce everything. You also renounce the whole world including your bodies. You understand that those are your old skins and that you have to go to the new world. We souls are not residents of this place. We only come here to play our parts. We are originally residents of the supreme abode. You children also know what the incorporeal tree up there is like. All souls reside there. This drama is predestined. There are many billions of human souls. Where do they all reside? In the incorporeal world. However, the stars in the sky are not souls. People have even called those stars deities, but they are not deities. We call Shiv Baba, the Sun of Knowledge. Those stars cannot be called deities. So many wrong things have been written in the scriptures. All of that is the paraphernalia of the path of devotion through which you have continued to come down. You will definitely come down if you are to take 84 births. This is the ironaged world. Satyug is called the golden-aged world. Who resides there? The deities. No one knows where they went. You understand that they took rebirth. The Father has explained that, whilst taking rebirth, they changed from deities into Hindus; they became impure. No one else’s religion changes in this way. No one knows why their religion changed. The Father says: They became corrupt in their religion and their behaviour. When they were deities, they were pure couples. Then they became impure in the kingdom of Ravan and so they could no longer be called deities. That was why the name Hindu was given. God Krishna did not establish the deity religion. Surely, it must have been Shiv Baba who came and established it. People celebrate the birth of Shiva or the night of Shiva, but they do not know what He did when He came. There is also the scripture “Shiva Purana”. In fact, there is only the one Gita of Shiva which Shiv Baba spoke. There are no other scriptures. You do not commit any violence. No scripture of yours is created. You go to the new world. There are no scriptures or Gita etc. in the golden age. Who would study them there? People say that the Vedas and scriptures etc. have existed since the beginning of time. They do not know anything. There are no scriptures etc. in heaven. The Father created the deities. They all attained salvation and so there would be no need for them to study scriptures. There are no scriptures there. The Father has now given each of you the key of knowledge with which the lock on your intellect was opened. Previously, those locks were completely locked and so you did not understand anything. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Do not be jealous of anyone. Remove your defects and make effort to become complete. Claim a high status by studying.
  2. Renounce everything including your own body. Do not commit any type of violence. Do not have any arrogance.
Blessing: May you be filled with the treasure of happiness and become a carefree emperor by transforming “mine” into “Yours”.
The children who have said “Everything is Yours” remain carefree. “Nothing is mine, everything is Yours”. When you bring about such transformation, you become carefree. Everyone wants to remain carefree in their lives. Where there are no worries, there is constant happiness. By saying “Yours” and by becoming carefree you become full of the treasures of happiness. You carefree emperors have countless, unending, imperishable treasures which will not be there in the golden age.
Slogan: To use your treasures for service means to increase your account of accumulation.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 12 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 12 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 11 September 2018 :- Click Here

12/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are sitting in the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. You definitely have to listen to whatever Rudra Shiv Baba tells you and relate it to others.
Question: What is the main difference between the sacrificial fire created by the Father and those created by human beings?
Answer: Human beings create sacrificial fires of Rudra for there to be peace, that is, so that destruction is prevented from taking place. However, the Father has created this sacrificial fire of the knowledge of Rudra for the flames of destruction to emerge so that Bharat can become heaven. Through this sacrificial fire of the knowledge of Rudra created by the Father, you become Narayan from an ordinary man, that is, you become deities from human beings. You don’t gain anything from those other sacrificial fires.
Song: My heart desires to call out to You.

Om shanti. This is such a sweet song! It is so meaningful! Those who have unlimited and broad intellects will be able to understand it very well. Intellects too are numberwise; there are the highest, the middle and the lowest. Those who have elevated intellects can understand the meaning of this song very well. “My heart desires to call out to You”. Who is remembering this? (Children) Which children? There are many children. It is those who were deities and who have now become Brahmins, those who have taken the full 84 births who are the ones who have been calling out a great deal. They are also the ones who built the Shiva Temple, that is, the Temple to Somnath. It proves that we, who were worthy-of-worship deities, have now become worshippers. We truly were worthy of worship and we then became worshippers. So we worshipped Somnath, Shiva. Many create sacrificial fires of Rudra, but no one creates the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. They call it a Rudra Yagya. Even now, they are creating a sacrificial fire of Rudra. You can explain to them very clearly who Rudra is. Did Rudra ever create a sacrificial fire? How did He create it, was it successful and what was the result of it? No one knows this. You have now each received a third eye of knowledge. No one, except the Supreme Father, the Supreme Soul, can bestow the third eye of knowledge. The Supreme Father, the Supreme Soul, is remembered as the Ocean of Knowledge. Human beings cannot be called the Ocean of Knowledge. You know that you are now receiving your inheritance from the Grandfather, the One whom you have been remembering and saying: Baba, come and bestow the imperishable jewels of knowledge on us. We will take this donation and then donate it to others. It is very easy. Simply remind them that they have two fathers. On the path of devotion, you have two fathers. In the golden and silver ages, you only have a physical father. The inheritance you receive there is according to the efforts you make here at this time. So, the heads of you children should work on how to go to such places where you can ask them: Who created the sacrificial fire of Rudra? Is it the sacrificial fire of the knowledge of Rudra or the sacrificial fire of Rudra? Its real name is: Sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Rudra is incorporeal. How can He create a sacrificial fire? He would definitely have to adopt a body. People also have a sacrificial fire for Daksh Prajapati. They have shown (in the scriptures) Daksh Prajapati sacrificing a horse in the sacrificial fire. They cut a horse into pieces and burn it and they call that a Daksh Prajapati Yagya. It is now that you understand this and so you should write what type of sacrificial fire this is. People hold sacrificial fires with great pomp and splendour. They collect a lot of money. Eminent and wealthy people donate money. Some donate 100 whereas others donate 500. You sacrifice yourselves completely into this sacrificial fire of the knowledge of Rudra. In other yagyas, they accumulate money bit by bit and then brahmin priests are given alms from that. Here, you have to sacrifice yourselves completely. There, there is no question of sacrificing oneself. Here, children say: Baba, I am coming with my mind, body and wealth. No one would say this there. They do not put such offerings into a sacrificial fire. They perform arti (worship ritual with lamps) and they ask for donations. They take from important people. You children understand that the flames of destruction emerged from this sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Those people create sacrificial fires for peace, not for destruction. There, they make a great deal of noise for peace. Peace is needed throughout the whole world. The Supreme Soul is the Ocean of Peace. The meaning is explained to you children. When you read newspapers, you should think about how to explain to everyone. The Father knows how the Brahma Kumaris are looking after the shops. Only the jaggery and its bag know which of the Businessman’s shops are running well and which of the managers are good. This Brahma is the bag. These are very entertaining things! Therefore, it is written of the sacrificial fire of the knowledge of Rudra that the flames of destruction emerged from that. People create sacrificial fires for peace. This is the real sacrificial fire. Those brahmins have many patrons whereas you Brahmins only have the one Patron and that is the Father, Rudra. Whether you call Him the Father, Rudra or Shiva or Somnath (Lord of Nectar), it is He who creates this sacrificial fire of the knowledge of Rudra in which you are now sitting. Those sacrificial fires last from two to four days, whereas your sacrificial fire of the knowledge of Rudra is huge and so it takes time. This is the sacrificial fire in which you become Narayan from an ordinary man, that is, you become deities from human beings. Those people would not say this. The Father sits here and explains how you should caution them. Tell the important people that there is a mistake in the sacrificial fires they create. The Supreme Father, the Supreme Soul, comes at the confluence age of every cycle. They have made a mistake in the scriptures and said that He comes in every age. In any case, they say that they create a sacrificial fire of Rudra, whereas it is really the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Shiva’s name is Rudra and He is the One who creates the sacrificial fire of knowledge. Just as Abraham established his Islam religion and Buddha established the Buddhist religion, so, in the same way, Rudra establishes the sacrificial fire of knowledge through which the flames of destruction emerge. In fact, those people create sacrificial fires for peace, that is, they do not want destruction. It is good to destroy hell for the sake of creating heaven. Bharat is the imperishable land. Surely, the human community of Bharat should be very large. There was the original eternal deity religion and that began a whole cycle ago. It is mentioned in the scriptures that there were 330 million deities in Bharat. However, it has to be explained that the population of the deity religion would surely be the largest of all the religions, but many were converted. So, how can they emerge? Many left and became Buddhists, Christians and Muslims etc. This is why the population has decreased. This too is in the drama. You need an unlimited and broad intellect to understand this. Until this knowledge sits in their intellects, what benefit is there in them just surrendering? Many surrender themselves, but only those who imbibe this knowledge well and inspire others to imbibe it very well and who create subjects are able to claim a good status. So, this song, “My heart desires to call out to You”, is accurate. Who were the first ones to take 84 births? The ones who existed at the beginning were actually the deities and they existed in Bharat. Many have now been converted; some went to one place and others to another; some even left Bharat completely. However, there is truly no other pilgrimage place as elevated as Bharat was. God has to come into Bharat and purify everyone, even all the founders of religions, because everyone is now impure and there is only the One who purifies everyone. You know this, but, among you too, the accuracy of your understanding is numberwise. You say that you are sitting in the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Can there be a sacrificial fire like this in which people sit for so long? What do you sit and do? You continue to listen to the knowledge that Rudra explains. As long as Rudra Baba is in this body, He will continue to explain. Surely, Prajapita Brahma would also be here. “The day of Brahma and the night of Brahma”, has been remembered. It cannot be the day and night of the Brahma who resides in the subtle region. He is the deity who resides in the subtle region. The question of day and night applies here. The night of Brahma means the time he is impure and, when he becomes pure. it becomes the day. It is the one Satguru who purifies Brahma. He is the true Baba, the true Teacher and the Satguru – all three combined. Firstly, you are the children of the Father and then, you attain your status from the Teacher. This is numberwise. If you even retained this in your intellects, you would remain very happy. Originally, you belonged to the unlimited Father. You came down here to play your parts. You have been remembering the unlimited Father from the beginning of the path of devotion, because He is the Creator of heaven. Surely, He must be the One who gives us the kingdom of heaven. It is very easy to explain this. Only sensible ones are able to explain. In fact, it is you Brahmins who are sensible. Those among you who are intelligent are also numberwise. The people who are intelligent in the world are numberwise too. Here, those who continue to become more sensible will also definitely claim a good number. Each one of you should ask your own heart: To what extent have I become sensible? Just as Baba speaks the murli here, in the same way, it is possible for you to speak the murli there. You should explain to them that there is the difference of day and night between the sacrificial fire of Rudra and the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. When the sacrificial fire of the knowledge of Rudra was created, the flames of destruction emerged and Bharat became heaven, whereas those people create sacrificial fires so that destruction doesn’t take place, so that heaven is not established. That is completely the opposite thing. This is why Baba says: I come to uplift all of those people. I come and create the sacrificial fire of the knowledge of Rudra. Therefore, you make a promise: Baba, whatever we hear from You, we will relate that to others. Achcha, relate it to others, but repeat it here first. Repeat it as often as possible so that you can explain it anywhere. These are first-class points. In other sacrificial fires people offer barley and sesame seeds, whereas the material of the whole of the old world is sacrificed into My sacrificial fire of the knowledge of Rudra. However, not all of these aspects are imbibed very well by the intellects of some. If you do not remember the Father, the lock on your intellect doesn’t open. Baba says: What can I do even? At this time, the intellect of everyone is impure. I come and purify them. Those who do not remember Me are not able to imbibe this knowledge, and so, how would the locks on their intellects open? It is only by having remembrance that they can open. The Father is the most beloved One, and so people praise Him a great deal. There is a great deal of praise of Shiv Baba. Shiva is also worshipped, so He must surely have come, but what could He do without organs? Therefore, I have now entered Brahma. You children are sitting in front of BapDada but, because of body consciousness, you are not able to maintain that much love and regard for the Father; you hardly follow His directions and you become arrogant. The Father says: I am completely egoless. So, why do you have so much arrogance? You think that only you are very clever. You become so body conscious! Now, when someone’s husband dies, the soul leaves and the body is destroyed. Then, that soul is invoked into a brahmin priest. It is not the body that is invoked. They have that feeling of love and devotion and thereby receive the return for it. If a wife continues to remember her husband, she receives a vision of him. It is Baba who grants visions; many have such love. However, it is the soul that comes. When a man is so devoted to his dead wife, he too would receive the return for his devoted feelings; he would see his wife. He would bring something and would adorn her with it himself. Many such things used to take place in the past. Previously, they used to feed the soul with great ceremony. When people remember Ganesh or Nanak etc., they have a vision of them. This can happen to many but only the one Father holds the key to it. The Father says: These things about visions are also fixed in the drama. You are granted visions and the drama continues; it doesn’t wait! You have to understand the drama very well. Ah, you must also have very good regard for Baba. Some find it very difficult to have that much love and regard for the Father; they think that He is incorporeal. When they are told that this one is His chariot, they think: What have I got to do with him? I’m only going to remember the incorporeal One. Achcha, see if you are able to go into the lap of the incorporeal One or eat and drink with the incorporeal One. Why do you come to this one? Then they say: But Baba, You are in this one; we move along believing that You are present in this one. It is difficult for the intellects of some to retain this. There are many who tell lies when they say: I have a great deal of love for Baba. I stay in remembrance of Baba for so many hours. This Baba says: Even I am not able to stay in complete remembrance. I am the only specially loved, long-lost and now-found child, nevertheless, I make a lot of effort. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Along with surrendering yourself, you must also broaden your intellect. In order to claim a high status, imbibe this knowledge very well and inspire others to imbibe it.
  2. Become egoless like the Father. Let go of arrogance and have deep love and regard for the Father. Do not become body conscious.
Blessing: May you be a knowledge-full and sensible soul who accumulates an income of multimillions at every step.
A sensible and knowledge-full soul is one who first considers everything before he acts. Eminent people first have their food checked before they eat it. Similarly, thoughts are food for the intellect and so first of all check them and then put them into practice. By checking your thoughts, your words and deeds automatically become powerful. Where there is power, there is an income. So, become powerful and accumulate an income of multimillions at every step, that is, from every thought, word and deed. This is the qualification of a knowledge-full soul.
Slogan: Only those who fly in the aeroplane of blessings from the Father and everyone are flying yogis.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 12 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 September 2018

To Read Murli 11 September 2018 :- Click Here
12-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम रूद्र ज्ञान यज्ञ में बैठे हो, रूद्र शिवबाबा तुम्हें जो सुनाते हैं वह सुनकर दूसरों को जरूर सुनाना है”
प्रश्नः- बाप ने भी यज्ञ रचा है और मनुष्य भी यज्ञ रचते हैं – दोनों में कौन सा मुख्य अन्तर है?
उत्तर:- मनुष्य रूद्र यज्ञ रचते हैं कि शान्ति हो अर्थात् विनाश न हो लेकिन बाप ने रूद्र यज्ञ रचा है कि इस यज्ञ से विनाश ज्वाला निकले और भारत स्वर्ग बनें। बाप के इस रूद्र ज्ञान यज्ञ से तुम नर से नारायण अर्थात् मनुष्य से देवता बन जाते हो। उस यज्ञ से तो कोई भी प्राप्ति नहीं होती है।
गीत:- तुम्हारे बुलाने को जी चाहता है……

ओम् शान्ति। यह कितना मीठा गीत है और कितना अर्थ सहित है, जो विशाल बुद्धि वाले होंगे वह अच्छी रीति समझ सकेंगे। बुद्धि भी नम्बरवार है ना। उत्तम-मध्यम-कनिष्ट होते हैं। उत्तम बुद्धि वाले इसका अर्थ अच्छी रीति समझ सकते हैं। तुम्हारे बुलाने को जी चाहता है, यह कौन याद करते हैं? (बच्चे) कौन से बच्चे? बच्चे तो ढेर हैं। जो ब्राह्मण बने हैं, जो देवता थे, जिन्होंने ही पूरे 84 जन्म लिए हैं उन्होंने ही जास्ती बुलाया है। वही शिव अथवा सोमनाथ के मन्दिर की स्थापना करते हैं। सिद्ध होता है हम जो पूज्य देवी-देवता थे, अभी पुजारी बने हैं। बरोबर हम पूज्य थे फिर पुजारी बने तो सोमनाथ शिव की पूजा करते हैं। रूद्र यज्ञ बहुत रचते हैं, रूद्र ज्ञान यज्ञ कभी नहीं रचते। रूद्र यज्ञ नाम रखते हैं। अभी भी रूद्र यज्ञ रच रहे हैं। तुम बहुत अच्छा समझा सकते हो – रूद्र कौन है? क्या रूद्र ने कभी यज्ञ रचा था? कैसे रचा फिर क्या उसकी सिद्धि हुई? यह तो कोई नहीं जानते। तुमको अभी ज्ञान का तीसरा नेत्र मिला है। परमपिता परमात्मा के सिवाए ज्ञान का तीसरा नेत्र कोई दे नहीं सकता। ज्ञान सागर परमपिता परमात्मा को ही गाया जाता है। मनुष्य को ज्ञान सागर नहीं कह सकते। अभी तुम जानते हो हमको दादे का वर्सा मिल रहा है जिसको ही याद करते हैं कि बाबा आकर अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान करो। फिर हम भी दान लेकर औरों को करेंगे। बहुत सहज है। सिर्फ याद दिलायेंगे कि तुम्हारे दो बाप हैं। भक्ति मार्ग में दो बाप हो जाते हैं। सतयुग-त्रेता में लौकिक बाप ही होता है। वहाँ वर्सा भी तुम इस समय के पुरुषार्थ अनुसार पाते हो। तो तुम बच्चों का माथा फिरना चाहिए। ऐसी-ऐसी जगह जाकर पूछना चाहिए कि रूद्र यज्ञ किसने रचा था? क्या रूद्र ज्ञान यज्ञ है या रूद्र यज्ञ है? असुल नाम है रूद्र ज्ञान यज्ञ। रूद्र तो है निराकार। वह कैसे यज्ञ रचेगा? जरूर शरीर धारण करना पड़े। दक्ष प्रजापति का यज्ञ भी मनाते आते हैं। दिखाते हैं दक्ष प्रजापति यज्ञ में अश्व को स्वाहा करते हैं। घोड़े को टुकड़े-टुकड़े कर जलाते हैं। उनको दक्ष प्रजापति यज्ञ कहते हैं। यह तुम अभी जानते हो तो वहाँ लिखना चाहिए यह कौन सा यज्ञ है? बड़ा भभके से यज्ञ करते हैं। बहुत पैसे इकट्ठे करते हैं। बड़े-बड़े आदमी दान करते हैं। कोई 100 निकालते, कोई 500 निकालते। इस रूद्र ज्ञान यज्ञ में तो तुम सारे स्वाहा होते हो। उसमें तो थोड़ा-थोड़ा पैसा निकाल इकट्ठा करते हैं फिर ब्राह्मण को दक्षिणा मिलती है। यहाँ तो तुमको स्वाहा होना पड़ता है। वहाँ स्वाहा होने की बात नहीं। यहाँ बच्चे कहते हैं बाबा तन-मन-धन सहित मैं आता हूँ, वहाँ ऐसे नहीं कहेंगे। आहुति में कभी ऐसे नहीं डालेंगे। आरती आदि होगी, चंदा चीरा होगा। बड़ों-बड़ों से लेते हैं। तुम बच्चे जानते हो इस रूद्र ज्ञान यज्ञ से ही विनाश ज्वाला प्रज्जवलित हुई है। वह यज्ञ रचते हैं शान्ति के लिए, विनाश के लिए नहीं। वहाँ शान्ति का बड़ा आवाज़ करते हैं। शान्ति तो सारी दुनिया में चाहिए ना। परमात्मा है शान्ति का सागर। तुम बच्चों को अर्थ समझाया जाता है। अ़खबार पढ़ते हो तो ख्याल चलना चाहिए – कैसे हम सबको समझायें?

बाप जानते हैं कैसे बी.के. दुकान सम्भाल रहे हैं। सेठ का कौन सा दुकान अच्छा चलता है, कौन सा मैनेजर अच्छा है, वह तो गुड़ जाने गुड़ की गोथरी जाने। यह ब्रह्मा है गोथरी। यह बड़ी रमणीक बातें हैं। तो रूद्र ज्ञान यज्ञ के लिए तो लिखा हुआ है इससे विनाश ज्वाला निकली। वह यज्ञ करते हैं शान्ति के लिए। यह है सच्चा-सच्चा यज्ञ। उन ब्राह्मणों के तो अनेक सेठ होते हैं। यह तुम ब्राह्मणों का एक ही सेठ है। बाप है रूद्र। रूद्र बाप कहो, शिव कहो, सोमनाथ कहो, उसने ज्ञान यज्ञ रचा है, जिसमें तुम बैठे हो। वह यज्ञ तो दो-चार दिन चलेगा। तुम्हारा यह रूद्र ज्ञान यज्ञ तो बहुत बड़ा है। उसमें टाइम लगता है। यह है नर से नारायण अथवा मनुष्य से देवता बनने का यज्ञ। वह तो ऐसे नहीं कहेंगे। बाप बैठ समझाते हैं कैसे उन्हों को सावधान करो। बड़ों-बड़ों को बोलो – यह तुम जो यज्ञ रचते हो, उसमें भूल है। परमपिता परमात्मा कल्प-कल्प संगम पर आते हैं। शास्त्रों में युगे-युगे लिख दिया है। यह भूल कर दी है। वैसे ही रूद्र यज्ञ रचते हैं। वास्तव में रूद्र ज्ञान यज्ञ है। शिव का नाम है रूद्र, उसने ही ज्ञान यज्ञ रचा है। जैसे इब्राहम ने अपना इस्लाम धर्म स्थापन किया, बुद्ध ने बौद्धी धर्म स्थापन किया, वैसे रूद्र का है ज्ञान यज्ञ जिससे विनाश ज्वाला प्रज्जवलित होगी। तो गोया वो लोग शान्ति के लिए यज्ञ रचते हैं अर्थात् विनाश नहीं चाहते। स्वर्ग की स्थापना के लिए नर्क का विनाश हो, तो अच्छा ही है ना।

भारत है अविनाशी खण्ड। जरूर भारत के मनुष्य सम्प्रदाय बहुत ज्यादा होने चाहिए। आदि सनातन देवी-देवता धर्म था। उनको सारा कल्प हुआ है। शास्त्रों में 33 करोड़ लिख दिया है। परन्तु यह तो समझाना चाहिए – जरूर और धर्म वालों से देवता धर्म की आदमशुमारी जास्ती होगी, लेकिन वह कनवर्ट हो गये हैं तो कैसे निकलें। बौद्धी, क्रिश्चियन, मुसलमान आदि जाकर ढेर बने हैं, इसलिए थोड़ी संख्या हो जाती है। यह भी ड्रामा। इसमें समझने की बड़ी विशाल बुद्धि चाहिए। जब तक बुद्धि में ज्ञान नहीं बैठा है तो सिर्फ अर्पणमय होने से क्या फायदा? अर्पणमय तो ढेर बनते हैं परन्तु जो अच्छी रीति धारणा कर और कराते हैं, प्रजा बनाते हैं वही अच्छा पद पा सकते हैं।

तो यह गीत एक्यूरेट है – बुलाने को जी चाहता है…….। सबसे पहले 84 जन्म किसने लिए होंगे? जो पहले-पहले थे, वह थे ही देवी-देवतायें। सो भी भारत में थे। अभी तो कोई कहाँ, कोई कहाँ कनवर्ट हो गये हैं। कई तो भारत से बाहर चले गये हैं। नहीं तो वास्तव में भारत जैसा बड़े ते बड़ा तीर्थ और कोई है नहीं। और सभी धर्म स्थापक जो हैं उन्हों को भी पावन बनाने के लिए भगवान् को भारत में आना पड़ता है क्योंकि सब पतित हैं, सबको पावन बनाने वाला एक है। यह तुम जानते हो। तुम्हारे में भी नम्बरवार यथार्थ रीति जान सकते हैं। तुम कहेंगे हम रूद्र ज्ञान यज्ञ में बैठे हैं, ऐसा कोई यज्ञ होता है क्या, जिसमें इतना समय बैठे हों? क्या बैठ करते हो? रूद्र जो ज्ञान सुनाते हैं वह सुनते ही रहते हो। जहाँ तक रूद्र बाबा इस शरीर में है, सुनाते ही रहेंगे। प्रजापिता ब्रह्मा भी तो जरूर यहाँ होगा ना। ब्रह्मा का दिन और ब्रह्मा की रात गाई हुई है। सूक्ष्मवतनवासी ब्रह्मा का थोड़ेही दिन और रात बनायेंगे। वह तो सूक्ष्मवतनवासी देवता है। दिन और रात का प्रश्न यहाँ का है। ब्रह्मा की रात माना पतित। फिर वही पावन बनते हैं तो दिन होता है। ब्रह्मा को भी पावन बनाने वाला वह एक सतगुरू है। सत बाबा, सत टीचर, सतगुरू तीनों इकट्ठे हैं। पहले जरूर बाप के बच्चे होंगे फिर पद टीचर से पायेंगे। नम्बरवार हैं ना। यह भी बुद्धि में रहे तो कितनी खुशी रहे। तुम पहले बेहद के बाप के थे ना। यहाँ आये हो पार्ट बजाने। भक्ति मार्ग में बेहद के बाप को याद करते आये हो क्योंकि वह है स्वर्ग का रचयिता। जरूर स्वर्ग की राजाई देने वाला होगा। यह समझाना तो बड़ा सहज है। सेन्सीबुल ही समझा सकेंगे। वास्तव में सेन्सीबुल तुम ब्राह्मण हो। तुम्हारे में जो अक्लमंद हैं, उनमें भी नम्बरवार हैं। दुनिया के अक्लमंद भी नम्बरवार हैं ना। यहाँ भी जो सेन्सीबुल बनते जायेंगे वह जरूर अच्छा नम्बर पायेंगे। हर एक अपनी दिल से पूछे हम कहाँ तक सेन्सीबुल बना हूँ? जैसे बाबा मुरली चलाते हैं वैसे वहाँ भी तुम्हारी मुरली चल सकती है। तुम उन्हें समझाओ कि रूद्र यज्ञ और रूद्र ज्ञान यज्ञ में रात-दिन का फ़र्क है। रूद्र ज्ञान यज्ञ रचा तो उससे विनाश ज्वाला निकली, भारत स्वर्ग बना और यह फिर यज्ञ रचते हैं विनाश न हो अर्थात् स्वर्ग स्थापन न हो। यह तो उल्टी बात हो गई। तब तो बाबा कहते हैं मैं इन सबका उद्धार करने आता हूँ। रूद्र ज्ञान यज्ञ रचता हूँ। तो तुम प्रतिज्ञा करते हो – बाबा, हम आपसे सुनकर और सुनायेंगे। अच्छा, औरों को सुनाओ। पहले यहाँ तो रिपीट करो। घड़ी-घड़ी रिपीट करो जो फिर कहाँ समझा सको। फर्स्टक्लास प्वाइंट है। उस यज्ञ में तो जौ-तिल आदि डालते हैं, मेरे रूद्र ज्ञान यज्ञ में तो सारी पुरानी दुनिया की सामग्री स्वाहा हुई थी। परन्तु यह सब बातें कोई की बुद्धि में अच्छी रीति धारण नहीं होती। बाप को याद नहीं करते हैं तो बुद्धि का ताला नहीं खुलता। बाबा कहते हैं – हम भी क्या करें? इस समय सबकी बुद्धि पतित है, उनको पावन बनाता हूँ। जो मेरे को याद नहीं करते, उनमें धारणा नहीं हो सकती। बुद्धि का ताला कैसे खुले? याद से ही खुलेगा। मोस्ट बिलवेड बाप है, उनकी बड़ी महिमा करते हैं। शिवबाबा की कितनी महिमा है! शिव की पूजा भी होती है, तो जरूर आता होगा ना। बिगर आरगन्स क्या आकर करेंगे? तो अब ब्रह्मा में आया हुआ हूँ। तुम बच्चे बापदादा के सामने बैठे हुए हो परन्तु देह-अभिमान होने कारण इतना लॅव, बाप के लिए रिगार्ड नहीं रहता। डायरेक्शन पर मुश्किल चलते हैं। अहंकार में आ जाते हैं। बाप कहते हैं – मैं निरहंकारी हूँ, तुमको इतना अहंकार क्यों आता है? बस, समझते हैं मैं ही होशियार हूँ। इतना देह-अभिमान आ जाता है।

अब कोई का पति मर जाता है तो उसकी देह ख़त्म हो गई। बाकी आत्मा निकल गई फिर ब्राह्मण में आत्मा को बुलाते हैं। देह को तो नहीं बुलाते। भावना रखते हैं तो भावना का भाड़ा मिलता है। पति को याद करते रहे तो पति का साक्षात्कार कर लेंगे। बाबा साक्षात्कार तो कराते हैं ना। ऐसे बहुतों का प्यार होता है। आयेगी तो आत्मा ना। कोई का स्त्री में प्यार है तो भावना का भाड़ा मिल जाता है। स्त्री को देख लेते हैं। चीज़ ले आते हैं, खुद उनको पहनाते हैं। ऐसे बहुत कुछ होता आया है। आगे बहुत विधि से खिलाते थे। जैसे गणेश को अथवा नानक आदि को याद करते हैं तो साक्षात्कार हो जाता है, ऐसे बहुतों को हो सकता है। परन्तु वह चाबी एक ही बाप के हाथ में है। बाप कहते हैं यह साक्षात्कार की बातें भी ड्रामा में नूंधी हुई हैं। साक्षात्कार कराया, ड्रामा चला, ठहरता नहीं है। ड्रामा को भी अच्छी रीति जानना होता है। अरे, बाबा का तो अच्छी रीति रिगार्ड रखो। बाप में इतना रिगार्ड प्यार रखना बड़ा मुश्किल समझते हैं, समझते हैं वह तो निराकार है। कहते हैं यह तो उनका रथ है, इनको हम क्या करेंगे? हम तो निराकार को ही याद करेंगे। अच्छा, निराकार की गोद में जाकर दिखाओ? निराकार साथ खाओ, पियो। तुम इनके पास क्यों आते हो? कहते हैं – नहीं बाबा, आप इसमें हो, आपको ही इसमें विराजमान समझ चलते हैं। यह बड़ा मुश्किल किसकी बुद्धि में रहता है। ऐसे बहुत हैं जो गपोड़े लगाते हैं – हमारा बाबा में बहुत प्यार है, हम इतने घण्टे बाबा को याद करते हैं। बाबा कहते हैं मैं भी पूरा याद नहीं करता हूँ। मैं तो एक ही सिकीलधा बच्चा हूँ फिर भी मैं पुरुषार्थ बहुत करता हूँ। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अर्पण होने के साथ-साथ अपनी बुद्धि को विशाल बनाना है। ऊंच पद के लिए अच्छी रीति धारणा करनी और करानी है।

2) बाप समान निरहंकारी बनना है। अहंकार छोड़ बाप से अति लॅव वा रिगार्ड रखना है। देह-अभिमान में नहीं आना है।

वरदान:- हर कदम में पदमों की कमाई जमा करने वाले समझदार ज्ञानी तू आत्मा भव
समझदार ज्ञानी तू आत्मा वह है जो पहले सोचता है फिर करता है। जैसे बड़े आदमी पहले भोजन को चेक कराते हैं फिर खाते हैं। तो यह संकल्प बुद्धि का भोजन है इसे पहले चेक करो फिर कर्म में लाओ। संकल्प को चेक कर लेने से वाणी और कर्म स्वत: समर्थ हो जायेंगे। और जहाँ समर्थ है वहाँ कमाई है। तो समर्थ बन हर कदम अर्थात् संकल्प, बोल और कर्म में पदमों की कमाई जमा करो, यही ज्ञानी तू आत्मा का लक्षण है।
स्लोगन:- बाप और सर्व की दुआओं के विमान में उड़ने वाले ही उड़ता योगी हैं।
Font Resize