12 october ki murli

TODAY MURLI 12 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 12 October 2020

12/10/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come to teach you how to swim. By learning this, you are taken across from this world. The whole world is then changed for you.
Question: What do the Father’s helpers receive in return for the help they give?
Answer: The Father makes the children who become His helpers at this time such that they don’t need to take help or advice for half the cycle. He is such a great Father! He says: Children, if you weren’t My helpers, how would I be able to establish heaven?

Om shanti. The spiritual Father explains to the sweetest, numberwise, extremely sweet, spiritual children. Many children have become senseless. Ravan has made you so senseless. We are now being made so sensible. When someone passes the examination for the Indian Civil Service he thinks that he has passed a very high examination. Look how great the examination is that you pass! Just think about it. Who is it that is teaching you? Who are those who are studying? You have the faith that, every cycle, every 5000 years, you continue to meet the Father, Teacher and Guru again. Only you children know how great the inheritance you receive from the highest-on-high Father is. The Teacher gives you the inheritance by teaching you. He teaches you and also changes this world into the new world for you to rule. They sing so much praise of Him on the path of devotion. You are receiving your inheritance from Him. You children also know that the old world is changing. You say that all of you are the children of Shiv Baba. The Father has to come here to make the old world new. In the picture of the Trimurti, establishment of the new world is portrayed taking place through Brahma. Therefore, Brahmins, the mouth-born creation of Brahma, are definitely needed. Brahma does not establish the new world. The Creator is the Father. He says: I come and tactfully inspire the destruction of the old world and create the new world. There are very few residents in the new world. Governments try to control the population. However, it cannot decrease now. Millions of people die in war but, in spite of that, the population still continues to increase. Only you understand this. You have the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world in your intellects. You consider yourselves to be students. You are also learning how to swim. People say: Take my boat across. Those who learn how to swim well become very famous. Look how you swim now! You go completely up above and then come down here. They say how many miles up they went. You souls also go so many miles up above. That is a physical thing that can be calculated. For you, it is incalculable. You souls know that you will return home to where there is no sun or moon etc. You have the happiness that that is your home; we are residents of that place. People do devotion and make effort to go to the land of liberation, but no one has been able to go there. They try to meet God in the land of liberation; they try different methods. Some say that they will merge into the light. Some say that they will go to the land of liberation. However, no one knows the land of liberation. You children know that Baba has come and will take us back home with Him. Sweetest Baba has come and is making us worthy of being taken back home. We have been making effort for this for half the cycle but were unable to become that worthy. Neither can anyone merge into the light, nor can anyone go to the land of liberation or attain eternal liberation. Whatever effort they made, it was wasted. The efforts of you, who are the decoration of the Brahmin clan, are now bearing fruit. How has this play been created? You are now called theists. You know the Father very well and you have also learnt about the world cycle from the Father. The Father says: No one has the knowledge of liberation or liberation-in-life. Even deities don’t have that. No one knows the Father. Therefore, how could He take anyone back? There are so many gurus and so many people become their followers. Shiv Baba is the true Satguru. He doesn’t have feet. He says: I don’t have feet. How can I have Myself worshipped? The children become the masters of the world, so how can I have them worship Me? On the path of devotion, children bow down to their father. Children are in fact the masters of their father’s property,but they show their humility. Even small children etc. fall at their feet. Here, the Father says: I liberate you from bowing down to My feet. He is such a great Father! He says: You children are My helpers. If you weren’t My helpers, how would I be able to establish heaven? The Father says: Children, it is at this time that you become My helpers. I make you such that you don’t need to take anyone’s help. You won’t even need to take anyone’s advice. Here, the Father is taking the children’s help. He says: Children, don’t become dirty now! Don’t be defeated by Maya. Otherwise you will defame the name. In a boxing match, the winner is praised and the face of the defeated one goes pale. Here, too, some are defeated. For those who are defeated here, it is said: They have dirtied their faces. They came here to become beautiful, but what did they do instead? Everything they had earned so far has been destroyed and they have to start anew. After becoming the Father’s helpers, they are defeated and they defame the Father’s name. There are the two parties: 1) the slaves of Maya and 2) the servants of God. You love the Father. It is remembered: Those whose intellects have no love at the time of destruction…. You have loving intellects. Therefore, you mustn’t defame the name. Since you have loving intellects, why are you being defeated by Maya? Those who are defeated experience sorrow. People praise and applaud those who are victorious. You children understand that you are very strong and that you definitely have to conquer Maya. The Father says: Forget everything you see, including you own body. Constantly remember Me alone. Maya has made you tamopradhan from satopradhan. You now have to become satopradhan again. You now have to become conquerors of the world by conquering Maya. This is a play about victory and defeat, about happiness and sorrow. There is defeat in Ravan’s kingdom. The Father is now making you worth a pound. Baba has explained that the only birthday worth a pound isthe birthday of Shiva. You children now have to become like Lakshmi and Narayan. There, they have Deepmala in every home; everyone’s light is ignited. Your lights are ignited from the main Power. Baba sits here and explains so easily! Who, apart from the Father, would say: “Sweetest, beloved, long-lost and now-found children.”? The spiritual Father says: O My sweet, lovely children, you have been doing devotion for half a cycle. However, not a single one of you can return home yet. Only when the Father comes can He take everyone home. You can explain very well about the confluence age: how the Father comes and takes all souls back home. No one in the world knows this unlimited play. This is an unlimited drama. Only you understand this; no one else can say this. If people were to speak of the unlimited drama, how would they explain the drama? Here, you receive knowledge of the cycle of 84 births. You children now have this knowledge; therefore, you should have remembrance. The Father explains everything so easily to you. You have been stumbling around so much on the path of devotion. How far you go to bathe! There’s a lake of which it is said, “By taking a dip in it, you become an angel.” You are now taking a dip in the ocean of knowledge and becoming princesses. Someone who is very fashionable is said to look like an angel. You are now becoming jewels. Human beings cannot have wings etc. with which to fly. They cannot fly like that. It is souls that fly. Souls, who are also called rockets, are so tiny. When all souls return home, it is possible that you children will have visions of that. Just as your intellects can understand and here you talk about how it’s possible to see destruction, so, it’s also possible to see how swarms of souls return home. Hanuman, Ganesh, etc. do not really exist, but people have visions of them according to their love and devotional feelings. Baba is just a point. How can you describe Him? It is said that a soul is a tiny star which cannot be seen with these eyes. Bodies with which actions are performed are so large. Souls are so tiny and yet the cycle of 84 births is recorded in them. Not a single human being’s intellect is aware of how you take 84 births. It is a wonder how a part is recorded in each soul. It is souls that take bodies and play their parts. Those plays are limited, whereas this play is unlimited. The unlimited Father has come Himself to give His own introduction. All of you good, serviceable children continue to churn the ocean of knowledge regarding how to explain to others. You have to beat your head so much with each one. Even then, some tell Baba that they don’t understand. When someone doesn’t study, he is said to have a stone intellect. You can see that some study for only seven days and become very happy and say that they want to go to Baba. Others don’t understand anything. People speak of stone intellects and divine intellects, but they don’t understand the meaning of that. When a soul becomes pure, he becomes a lord of divinity. There is also a temple to the Lord of Divinity. The whole temple is not made of gold; just the top of the temple has been covered with a little gold. You children understand that you have found the Master of the Garden. He shows us the way to change from thorns into flowers. There is the praise of the Garden of Allah. In the early days, there was a Muslim who used to go into trance. He said that Khuda (God) gave him a flower. While he was standing, he would see the Garden of Khuda and then fall down. However, only Khuda, Himself, would show anyone the Garden of Khuda. How could anyone else show it? He grants you visions of Paradise. Khuda takes you there, but He doesn’t stay there Himself. Khuda stays in the land of peace and makes you into the masters of Paradise. You understand such good things that you become happy. There should be so much happiness inside you of now going to the land of happiness. There is no question of sorrow there. The Father says: Remember the land of happiness and the land of peace. Why shouldn’t we remember our home? Souls beat their heads so much to return home. They do tapasya and penance, and make so much effort etc., but no one can return home. In the picture of the tree, souls are shown continuing to come down, numberwise. Since the Father Himself is here, how could anyone go back in between? He tells you children every day: Remember the land of peace and the land of happiness. It is by forgetting the Father that you become unhappy and you experience the slipper of Maya. You mustn’t now experience the slipper at all. The main thing is body consciousness. You are now studying with the Father, the One to whom you have been calling out: O Purifier come! He is your Obedient Servant and Teacher. The Father is the Obedient Servant. Important people always write above their signature “Your obedient servant”. The Father says: See how I sit here and explain to you children. Only the worthy children are loved by the Father. The Father says of the children who are unworthy, that is, those who belong to the Father and then become traitors by indulging in vice: It would have been better if such a child hadn’t been born! Because of one, the names of so many are defamed, and so many experience difficulty. You are performing such an elevated task here! You are uplifting the world and you don’t even have three feet of land. You children don’t make anyone renounce his home and family. You even say to the kings: You were doublecrowned and worthy of being worshipped and you have now become worshippers. Now that the Father is making you into those who are worthy of worship once again, you should become that, should you not? It will take a little time. What would we do by taking a hundred-thousand from anyone? It is the poor who are going to receive the kingdom. The Father is the Lord of the Poor. You understand the true meaning of the Father being called the Lord of the Poor. Bharat is so poor and it is especially you mothers who are poor. The wealthy can’t take this knowledge. So many innocent women, who have been assaulted so much, come here. The Father says: The mothers have to be encouraged to move forward. When you go walking around early in the morning in a group, the mothers should be at the front. Your badge is firstclass. Those in the front should hold the “translight pictures. Tell everyone that the world is now to change. We are receiving our inheritance from the Father as we did in the previous cycle. You children should churn the ocean of knowledge about how to put service into practice. It does take time, does it not? Achcha.

To the sweetest beloved long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Have true love for the Father and become a helper of His. Never be defeated by Maya and defame the name of the clan. Make effort to forget everything that you see, including your own body.
  2. Have the happiness inside you that you are going to the land of peace and the land of happiness. Baba, as the obedient Teacher, is making us worthy of returning home. Become worthy and obedient. Do not become unworthy.
Blessing: May you imbibe the awareness of three things and become completely victorious.
Awareness of oneself, awareness of the Father and awareness of the knowledge of the drama: the expansion of all the knowledge is merged in the awareness of these three things. They are the three types of awareness of the tree of knowledge. A tree is at first a seed and then two leaves grow from that seed and the expansion of the tree then emerges. In the same way, the main thing is to have awareness of the Father, the Seed, and then of the two leaves, which is all the knowledge of soul and the drama. Those who imbibe this awareness of three things receive the blessing of being an embodiment of remembrance and they become completely victorious.
Slogan: Always keep your attainments in front of you and all weaknesses will easily finish.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 12 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 October 2020

Murli Pdf for Print : – 

12-10-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बाप आये हैं तुम बच्चों को तैरना सिखलाने, जिससे तुम इस दुनिया से पार हो जाते हो, तुम्हारे लिए दुनिया ही बदल जाती है”
प्रश्नः- जो बाप के मददगार बनते हैं, उन्हें मदद के रिटर्न में क्या प्राप्त होता है?
उत्तर:- जो बच्चे अभी बाप के मददगार बनते हैं, उन्हें बाप ऐसा बना देते हैं जो आधाकल्प कोई की मदद लेने वा राय लेने की दरकार ही नहीं रहती है। कितना बड़ा बाप है, कहते हैं बच्चे तुम मेरे मददगार नहीं होते तो हम स्वर्ग की स्थापना कैसे करते।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे नम्बरवार अति मीठे रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप समझाते हैं क्योंकि बहुत बच्चे बेसमझ बन गये हैं। रावण ने बहुत बेसमझ बना दिया है। अब हमको कितना समझदार बनाते हैं। कोई आई.सी.एस. का इम्तहान पास करते हैं तो समझते हैं बहुत बड़ा इम्तहान पास किया है। अभी तुम तो देखो कितना बड़ा इम्तहान पास करते हो। ज़रा सोचो तो सही पढ़ाने वाला कौन है! पढ़ने वाले कौन हैं! यह भी निश्चय है – हम कल्प-कल्प हर 5 हज़ार वर्ष बाद बाप, टीचर, सतगुरू से फिर मिलते ही रहते हैं। सिर्फ तुम बच्चे ही जानते हो – हम कितना ऊंच ते ऊंच बाप द्वारा ऊंच वर्सा पाते हैं। टीचर भी वर्सा देते हैं ना, पढ़ा करके। तुमको भी पढ़ा करके तुम्हारे लिए दुनिया को ही बदल देते हैं, नई दुनिया में राज्य करने के लिए। भक्ति मार्ग में कितनी महिमा गाते हैं। तुम उन द्वारा अपना वर्सा पा रहे हो। यह भी तुम बच्चे जानते हो कि पुरानी दुनिया बदल रही है। तुम कहते हो हम सब शिवबाबा के बच्चे हैं। बाप को भी आना पड़ता है – पुरानी दुनिया को नई बनाने। त्रिमूर्ति के चित्र में भी दिखाते हैं कि ब्रह्मा द्वारा नई दुनिया की स्थापना। तो जरूर ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण-ब्राह्मणियाँ चाहिए। ब्रह्मा तो नई दुनिया स्थापन नहीं करते। रचता है ही बाप। कहते हैं मैं आकर युक्ति से पुरानी दुनिया का विनाश कराए नई दुनिया बनाता हूँ। नई दुनिया के रहवासी बहुत थोड़े होते हैं। गवर्मेंन्ट कोशिश करती रहती है कि जनसंख्या कम हो। अब कम तो नहीं होगी। लड़ाई में करोड़ों मनुष्य मरते हैं फिर मनुष्य कम थोड़ेही होते हैं, जनसंख्या तो फिर भी बढ़ती जाती है। यह भी तुम जानते हो। तुम्हारी बुद्धि में विश्व के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान है। तुम अपने को स्टूडेण्ट भी समझते हो। तैरना भी सीखते हो। कहते हैं ना नईया मेरी पार करो। बहुत नामीग्रामी होते हैं जो तैरना सीखते हैं। अभी तुम्हारा तैरना देखो कैसा है, एकदम ऊपर में चले जाते हो फिर यहाँ आते हो। वह तो दिखलाते हैं इतने माइल्स ऊपर में गये। तुम आत्मायें कितना माइल्स ऊपर में जाते हो। वह तो स्थूल वस्तु है, जिसकी गिनती करते हैं। तुम्हारा तो अनगिनत है। तुम जानते हो हम आत्मायें अपने घर चली जायेंगी, जहाँ सूर्य-चाँद आदि नहीं होते। तुमको खुशी है – वह हमारा घर है। हम वहाँ के रहने वाले हैं। मनुष्य भक्ति करते हैं, पुरूषार्थ करते हैं – मुक्तिधाम में जाने के लिए। परन्तु कोई जा नहीं सकते। मुक्तिधाम में भगवान से मिलने की कोशिश करते हैं। अनेक प्रकार के यत्न करते हैं। कोई कहते हैं हम ज्योति ज्योत में समा जायें। कोई कहते हैं मुक्तिधाम में जायें। मुक्तिधाम का किसको पता नहीं है। तुम बच्चे जानते हो बाबा आया हुआ है अपने घर ले जायेंगे। मीठा-मीठा बाबा आया हुआ है, हमको घर ले जाने लायक बनाते हैं। जिसके लिए आधाकल्प पुरूषार्थ करते भी बन नहीं सके हैं। न कोई ज्योति में समा सके, न मुक्तिधाम में जा सके, न मोक्ष को पा सके। जो कुछ पुरूषार्थ किया वह व्यर्थ। अभी तुम ब्राह्मण कुल भूषणों का पुरूषार्थ सत्य सिद्ध होता है। यह खेल कैसा बना हुआ है। तुमको अभी आस्तिक कहा जाता है। बाप को अच्छी रीति तुम जानते हो और बाप द्वारा सृष्टि चक्र को भी जाना है। बाप कहते हैं मुक्ति-जीवनमुक्ति का ज्ञान कोई में भी नहीं है। देवताओं में भी नहीं है। बाप को कोई नहीं जानते तो किसको ले कैसे जायेंगे। कितने ढेर गुरू लोग हैं, कितने उन्हों के फालोअर्स बनते हैं। सच्चा-सच्चा सतगुरू है शिवबाबा। उसको तो चरण हैं नहीं। वह कहते हैं हमको तो चरण हैं नहीं। मैं कैसे अपने को पुज-वाऊं। बच्चे विश्व के मालिक बनते हैं, उनसे थोड़ेही पुजवाऊंगा। भक्ति मार्ग में बच्चे बाप के पांव पड़ते हैं। वास्तव में तो बाप की प्रापर्टी के मालिक बच्चे हैं। परन्तु नम्रता दिखलाते हैं। छोटे बच्चे आदि सब जाकर पांव पड़ते हैं। यहाँ बाप कहते हैं तुमको पांव पड़ने से भी छुड़ा देता हूँ। कितना बड़ा बाप है। कहते हैं तुम बच्चे मेरे मददगार हो। तुम मददगार नहीं होते तो हम स्वर्ग की स्थापना कैसे करते। बाप समझाते हैं – बच्चे, अभी तुम मददगार बनो फिर हम तुमको ऐसा बनाते हैं जो कोई की मदद लेने की दरकार ही नहीं रहेगी। तुमको कोई के राय की भी दरकार नहीं रहेगी। यहाँ बाप बच्चों की मदद ले रहे हैं। कहते हैं – बच्चे, अब छी-छी मत बनो। माया से हार नहीं खाओ। नहीं तो नाम बदनाम कर देते हैं। बॉक्सिंग होती है तो उसमें जब कोई जीतते हैं तो वाह-वाह हो जाती है। हार खाने वाले का मुँह पीला हो जाता है। यहाँ भी हार खाते हैं। यहाँ हार खाने वाले को कहा जाता है – काला मुँह कर दिया। आये हैं गोरा बनने के लिए फिर क्या कर देते हैं। की कमाई सारी चट हो जाती है, फिर नये सिर शुरू करना पड़े। बाप के मददगार बन फिर हार खाए नाम बदनाम कर देते हैं। दो पार्टी हैं। एक हैं माया के मुरीद, एक हैं ईश्वर के। तुम बाप को प्यार करते हो। गायन भी है विनाश काले विपरीत बुद्धि। तुम्हारी है प्रीत बुद्धि। तो तुमको नाम बदनाम थोड़ेही करना है। तुम प्रीत बुद्धि फिर माया से हार क्यों खाते हो। हारने वाले को दु:ख होता है। जीतने वाले पर ताली बजाते वाह-वाह करते हैं। तुम बच्चे समझते हो हम तो पहलवान हैं। अब माया को जीतना जरूर है। बाप कहते हैं देह सहित जो कुछ देखते हो, उन सबको भूल जाओ। मामेकम् याद करो। माया ने तुमको सतोप्रधान से तमोप्रधान बना दिया है। अब फिर सतोप्रधान बनना है। माया जीते जगतजीत बनना है। यह है ही हार और जीत, सुख दु:ख का खेल। रावण राज्य में हार खाते हैं। अब बाप फिर वर्थ पाउण्ड बनाते हैं। बाबा ने समझाया है – एक शिवबाबा की जयन्ती ही वर्थ पाउण्ड है। अब तुम बच्चों को ऐसा लक्ष्मी-नारायण बनना है। वहाँ पर घर-घर में दीपमाला रहती है, सबकी ज्योत जग जाती है। मेन पावर से ज्योत जगती है। बाबा कितना सहज रीति बैठ समझाते हैं। बाप के सिवाए मीठे-मीठे लाडले सिकीलधे बच्चे कौन कहेगा। रूहानी बाप ही कहते हैं – हे मेरे मीठे लाडले बच्चों, तुम आधाकल्प से भक्ति करते आये हो। वापिस एक भी जा नहीं सकते। बाप ही आकर सबको ले जाते हैं।

तुम संगमयुग पर अच्छी रीति समझा सकते हो। बाप कैसे आकर सब आत्माओं को ले जाते हैं। दुनिया में इस बेहद के नाटक का कोई को पता नहीं है, यह बेहद का ड्रामा है। यह भी तुम समझते हो, और कोई कह न सके। अगर बोले बेहद का ड्रामा है तो फिर ड्रामा का वर्णन कैसे करेंगे। यहाँ तुम 84 के चक्र को जानते हो। तुम बच्चों ने जाना है, तुमको ही याद करना है। बाप कितना सहज बतलाते हैं। भक्ति मार्ग में तुम कितने धक्के खाते हो। तुम कितना दूर स्नान करने जाते हो। एक लेक है कहते हैं उसमें डुबकी लगाने से परियां बन जाते हैं। अभी तुम ज्ञान सागर में डुबकी मार परीज़ादा बन जाते हो। कोई अच्छा फैशन करते हैं तो कहते हैं यह तो जैसे परी बन गई है। अभी तुम भी रत्न बनते हो। बाकी मनुष्य को उड़ने के पंख आदि हो नहीं सकते। ऐसे उड़ न सकें। उड़ने वाली है ही आत्मा। आत्मा जिसको रॉकेट भी कहते हैं, आत्मा कितनी छोटी है। जब सब आत्मायें जायेंगी तो हो सकता है तुम बच्चों को साक्षात्कार भी हो। बुद्धि से समझ सकते हो – यहाँ तुम वर्णन कर सकते हो, हो सकता है जैसे विनाश देखा जाता है वैसे आत्माओं का झुण्ड भी देख सकते हैं कि कैसे जाते हैं। हनूमान, गणेश आदि तो हैं नहीं। परन्तु उनका भावना अनुसार साक्षात्कार हो जाता है। बाबा तो है ही बिन्दी, उनका क्या वर्णन करेंगे। कहते भी हैं छोटा सा स्टॉर है जिसको इन आंखों से देख नहीं सकते। शरीर कितना बड़ा है, जिससे कर्म करना है। आत्मा कितनी छोटी है उसमें 84 का चक्र नूँधा हुआ है। एक भी मनुष्य नहीं होगा जिसको यह बुद्धि में हो कि हम 84 जन्म कैसे लेते हैं। आत्मा में कैसे पार्ट भरा हुआ है। वण्डर है। आत्मा ही शरीर लेकर पार्ट बजाती है। वह होता है हद का नाटक, यह है बेहद का। बेहद का बाप खुद आकर अपना परिचय देते हैं। जो अच्छे सर्विसएबुल बच्चे हैं, वह विचार सागर मंथन करते रहते हैं। किसको कैसे समझायें। कितना तुम एक-एक से माथा मारते हो। फिर भी कहते हैं बाबा हम समझते ही नहीं। कोई नहीं पढ़ते हैं तो कहा जाता है यह तो पत्थर बुद्धि हैं। तुम देखते हो यहाँ भी कोई 7 रोज़ में ही बहुत खुशी में आकर कहते हैं – बाबा पास चलें। कोई तो कुछ भी नहीं समझते। मनुष्य तो सिर्फ कह देते हैं पत्थरबुद्धि, पारस-बुद्धि, परन्तु अर्थ नहीं जानते। आत्मा पवित्र बनती है तो पारसनाथ बन जाती है। पारसनाथ का मन्दिर भी है। सारा सोने का मन्दिर नहीं होता है। ऊपर में थोड़ा सोना लगा देते हैं। तुम बच्चे जानते हो हमको बागवान मिला है, कांटे से फूल बनने की युक्ति बतलाते हैं। गायन भी है ना गॉर्डन ऑफ अल्लाह। तुम्हारे पास शुरू में एक मुसलमान ध्यान में जाता था – कहता था खुदा ने हमको फूल दिया। खड़े-खड़े गिर पड़ता था, खुदा का बगीचा देखता था। अब खुदा का बगीचा दिखाने वाला तो खुद ही खुदा होगा। और कोई कैसे दिखलायेंगे। तुमको वैकुण्ठ का साक्षात्कार कराते हैं। खुदा ही ले जाते हैं। खुद तो वहाँ रहते नहीं। खुदा तो शान्तिधाम में रहते हैं। तुमको वैकुण्ठ का मालिक बनाते हैं। कितनी अच्छी-अच्छी बातें तुम समझते हो। खुशी होती है। अन्दर में बहुत खुशी होनी चाहिए – अभी हम सुखधाम में जाते हैं। वहाँ दु:ख की बात नहीं होती। बाप कहते हैं सुखधाम, शान्तिधाम को याद करो। घर को क्यों नहीं याद करेंगे। आत्मा घर जाने के लिए कितना माथा मारती है। जप तप आदि बहुत मेहनत करती है परन्तु जा कोई भी नहीं सकते। झाड़ से नम्बरवार आत्मायें आती रहती हैं फिर बीच में जा कैसे सकती। जबकि बाप ही यहाँ है। तुम बच्चों को रोज़ समझाते रहते हैं – शान्तिधाम और सुखधाम को याद करो। बाप को भूलने के कारण ही फिर दु:खी होते हैं। माया का मोचरा लग जाता है। अब तो ज़रा भी मोचरा नहीं खाना है। मूल है देह-अभिमान।

तुम अभी तक जिस बाप को याद करते रहते थे – हे पतित-पावन आओ, उस बाप से तुम पढ़ रहे हो। तुम्हारा ओबीडियन्ट सर्वेन्ट टीचर भी है। ओबीडियन्ट सर्वेन्ट बाप भी है। बड़े आदमी नीचे हमेशा लिखते हैं ओबीडियन्ट सर्वेन्ट। बाप कहते हैं मैं तुम बच्चों को देखो कैसे बैठ समझाता हूँ। सपूत बच्चों पर ही बाप का प्यार होता है, जो कपूत होते हैं अर्थात् बाप का बनकर फिर ट्रेटर बन जाते हैं, विकार में चले जाते हैं तो बाप कहेंगे ऐसा बच्चा तो नहीं जन्मता तो अच्छा था। एक के कारण कितना नाम बदनाम हो जाता है। कितने को तकलीफ होती है। यहाँ तुम कितना ऊंच काम कर रहे हो। विश्व का उद्धार कर रहे हो और तुमको 3 पैर पृथ्वी के भी नहीं मिलते हैं। तुम बच्चे किसी का घरबार तो छुड़ाते नहीं हो। तुम तो राजाओं को भी कहते हो – तुम पूज्य डबल सिरताज थे, अब पुजारी बन पड़े हो। अब बाप फिर से पूज्य बनाते हैं तो बनना चाहिए ना। थोड़ी देरी है। हम यहाँ किसके लाख लेकर क्या करेंगे। गरीबों को राजाई मिलनी है। बाप गरीब निवाज़ है ना। तुम अर्थ सहित समझते हो कि बाप को गरीब निवाज़ क्यों कहते हैं! भारत भी कितना गरीब है, उनमें भी तुम गरीब मातायें हो। जो साहूकार हैं वह इस ज्ञान को उठा न सकें। गरीब अबलायें कितनी आती हैं, उन पर अत्याचार होते हैं। बाप कहते हैं माताओं को आगे बढ़ाना है। प्रभात-फेरी में भी पहले-पहले मातायें हो। बैज भी तुम्हारे फर्स्टक्लास हैं। यह ट्रांसलाइट का चित्र तुम्हारे आगे हो। सबको सुनाओ दुनिया बदल रही है। बाप से वर्सा मिल रहा है कल्प पहले मुआफिक। बच्चों को विचार सागर मंथन करना है – कैसे सर्विस को अमल में लायें। टाइम तो लगता है ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप से पूरी-पूरी प्रीत रख मददगार बनना है। माया से हार खाकर कभी नाम बदनाम नहीं करना है। पुरूषार्थ कर देह सहित जो कुछ दिखाई देता है उसे भूल जाना है।

2) अन्दर में खुशी रहे कि हम अभी शान्तिधाम, सुखधाम जाते हैं। बाबा ओबीडियन्ट टीचर बन हमको घर ले जाने के लायक बनाते हैं। लायक, सपूत बनना है, कपूत नहीं।

वरदान:- त्रि-स्मृति स्वरूप का तिलक धारण करने वाले सम्पूर्ण विजयी भव
स्वयं की स्मृति, बाप की स्मृति और ड्रामा के नॉलेज की स्मृति – इन्हीं तीन स्मृतियों में सारे ज्ञान का विस्तार समाया हुआ है। नॉलेज के वृक्ष की यह तीन स्मृतियां हैं। जैसे वृक्ष का पहले बीज होता है, उस बीज द्वारा दो पत्ते निकलते हैं फिर वृक्ष का विस्तार होता है, ऐसे मुख्य है बीज बाप की स्मृति फिर दो पत्ते अर्थात् आत्मा और ड्रामा की सारी नॉलेज। इन तीन स्मृतियों को धारण करने वाले स्मृति भव वा सम्पूर्ण विजयी भव के वरदानी बन जाते हैं।
स्लोगन:- प्राप्तियों को सदा सामने रखो तो कमजोरियाँ सहज समाप्त हो जायेंगी।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 12 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 October 2019

To Read Murli 11 October 2019:- Click Here
12-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – बाप की एक नज़र मिलने से सारे विश्व के मनुष्य-मात्र निहाल हो जाते हैं, इसलिए कहा जाता है नज़र से निहाल…..”
प्रश्नः- तुम बच्चों की दिल में खुशी के नगाड़े बजने चाहिए – क्यों?
उत्तर:- क्योंकि तुम जानते हो – बाबा आया है सबको साथ ले जाने। अब हम अपने बाप के साथ घर जायेंगे। हाहाकार के बाद जयजयकार होने वाली है। बाप की एक नज़र से सारे विश्व को मुक्ति-जीवनमुक्ति का वर्सा मिलने वाला है। सारी विश्व निहाल हो जायेगी।

ओम् शान्ति। रूहानी शिवबाबा बैठ अपने रूहानी बच्चों को समझाते हैं। यह तो जानते हो कि तीसरा नेत्र भी होता है। बाप जानते हैं सारी दुनिया की जो भी आत्मायें हैं, सबको मैं वर्सा देने आया हूँ। बाप की दिल में तो वर्सा ही याद होगा। लौकिक बाप की भी दिल में वर्सा ही याद होगा। बच्चों को वर्सा देंगे। बच्चा नहीं होता है तो मूँझते हैं, किसको दें। फिर एडाप्ट कर लेते हैं। यहाँ तो बाप बैठे हैं, इनकी तो सारे दुनिया की जो भी आत्मायें हैं, सब तरफ नज़र जाती है। जानते हैं सबको मुझे वर्सा देना है। भल बैठे यहाँ हैं परन्तु नज़र सारे विश्व पर और सारे विश्व के मनुष्य मात्र पर है क्योंकि सारे विश्व को ही निहाल करना होता है। बाप समझाते हैं यह है पुरूषोत्तम संगमयुग। तुम जानते हो बाबा आया हुआ है सबको शान्तिधाम, सुखधाम ले जाने। सब निहाल हो जाने वाले हैं। ड्रामा के प्लैन अनुसार कल्प-कल्प निहाल हो जायेंगे। बाप सब बच्चों को याद करते हैं। नज़र तो जाती है ना। सब नहीं पढ़ेंगे। ड्रामा प्लैन अनुसार सबको वापिस जाना है क्योंकि नाटक पूरा होता है। थोड़ा आगे चलेंगे तो खुद भी समझ जायेंगे अब विनाश होता है। अब नई दुनिया की स्थापना होनी है क्योंकि आत्मा तो फिर भी चैतन्य है ना। तो बुद्धि में आ जायेगा – बाप आया हुआ है। पैराडाइज़ स्थापन होगा और हम शान्तिधाम में चले जायेंगे। सबकी गति होगी ना। बाकी तुम्हारी सद्गति होगी। अभी बाबा आया हुआ है। हम स्वर्ग में जायेंगे। जयजयकार हो जायेगी। अभी तो बहुत हाहाकार है। कहाँ अकाल पड़ रहा है, कहाँ लड़ाई चल रही है, कहाँ भूकम्प होते हैं। हजारों मरते रहते हैं। मौत तो होना ही है। सतयुग में यह बातें होती नहीं। बाप जानते हैं अब मैं जाता हूँ फिर सारे विश्व में जयजयकार हो जायेगी। मैं भारत में ही जाऊंगा। सारे विश्व में भारत जैसे गांव है। बाबा के लिए तो गाँव ठहरा। बहुत थोड़े मनुष्य होंगे। सतयुग में सारी विश्व जैसे एक छोटा गाँव था। अभी तो कितनी वृद्धि हो गई है। बाप की बुद्धि में तो सब है ना। अब इस शरीर द्वारा बच्चों को समझा रहे हैं। तुम्हारा पुरूषार्थ वही चलता है जो कल्प-कल्प चलता है। बाप भी कल्प वृक्ष का बीजरूप है। यह है कारपोरियल झाड़। ऊपर में है इनकारपोरियल झाड़। तुम जानते हो यह कैसे बना हुआ है। यह समझ और कोई मनुष्य में नहीं है। बेसमझ और समझदारों का फ़र्क देखो। कहाँ समझदार स्वर्ग में राज्य करते थे, उनको कहा ही जाता है सचखण्ड, हेविन।

अभी तुम बच्चों को अन्दर में बड़ी खुशी होनी चाहिए। बाबा आया हुआ है, यह पुरानी दुनिया तो जरूर बद-लेगी। जितना-जितना जो पुरूषार्थ करेंगे, उतना पद पायेंगे। बाप तो पढ़ा रहे हैं। यह तुम्हारी स्कूल तो बहुत वृद्धि को पाती रहेगी। बहुत हो जायेंगे। सबका स्कूल इकट्ठा थोड़ेही होगा। इतने रहेंगे कहाँ। तुम बच्चों को याद है – अभी हम जाते हैं सुखधाम। जैसे कोई भी विलायत में जाते हैं तो 8-10 वर्ष जाकर रहते हैं ना। फिर आते हैं भारत में। भारत तो गरीब है। विलायत वालों को यहाँ सुख नहीं आयेगा। वैसे तुम बच्चों को भी यहाँ सुख नहीं है। तुम जानते हो हम बहुत ऊंची पढ़ाई पढ़ रहे हैं, जिससे हम स्वर्ग के मालिक देवता बनते हैं। वहाँ कितने सुख होंगे। उस सुख को सभी याद करते हैं। यह गाँव (कलियुग) तो याद भी नहीं आ सकता, इनमें तो अथाह दु:ख हैं। इस रावण राज्य, पतित दुनिया में आज अपरमअपार दु:ख हैं कल फिर अपरम-अपार सुख होंगे। हम योगबल से अथाह सुख वाली दुनिया स्थापन कर रहे हैं। यह राजयोग है ना। बाप खुद कहते हैं मैं तुमको राजाओं का राजा बनाता हूँ। तो ऐसा बनाने वाले टीचर को याद करना चाहिए ना। टीचर बिगर बैरिस्टर, इन्जीनियर आदि थोड़ेही बन सकते हैं। यह फिर है नई बात। आत्माओं को योग लगाना है परमात्मा बाप के साथ, जिससे ही बहुत समय अलग रहे हैं। बहुकाल क्या? वह भी बाप आपेही समझाते रहते हैं। मनुष्य तो लाखों वर्ष आयु कह देते हैं। बाप कहते हैं – नहीं, यह तो हर 5 हज़ार वर्ष बाद तुम जो पहले-पहले बिछुड़े हो वही आकर बाप से मिलते हो। तुमको ही पुरूषार्थ करना है। मीठे-मीठे बच्चों को कोई तकल़ीफ नहीं देते हैं, सिर्फ कहते हैं अपने को आत्मा समझो। जीव आत्मा है ना। आत्मा अविनाशी है, जीव विनाशी है। आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है, आत्मा कभी पुरानी नहीं होती है। वन्डर है ना। पढ़ाने वाला भी वन्डरफुल, पढ़ाई भी वन्डरफुल है। किसको भी याद नहीं, भूल जाती है। आगे जन्म में क्या पढ़ते थे, किसको याद है क्या? इस जन्म में तुम पढ़ते हो, रिज़ल्ट नई दुनिया में मिलती है। यह सिर्फ तुम बच्चों को पता है। यह याद रहना चाहिए – अभी यह पुरूषोत्तम संगमयुग है, हम नई दुनिया में जाने वाले हैं। यह याद रहे तो भी तुमको बाप की याद रहेगी। याद के लिए बाप अनेक उपाय बताते हैं। बाप भी है, टीचर भी है, सतगुरू भी है। तीनों रूप में याद करो। कितनी युक्तियाँ दे रहे हैं याद करने की। परन्तु माया भुला देती है। बाप जो नई दुनिया स्थापन करते हैं, बाप ने ही बताया है यह पुरूषोत्तम संगमयुग है, यह याद करो फिर भी याद क्यों नहीं कर सकते हो! युक्तियां बतलाते हैं याद की। फिर साथ-साथ कहते भी हैं माया बड़ी दुश्तर है। घड़ी-घड़ी तुमको भुलायेगी और देह-अभिमानी बना देगी इसलिए जितना हो सके याद करते रहो। उठते-बैठते, चलते-फिरते देह के बदले अपने को देही समझो। यह है मेहनत। नॉलेज तो बहुत सहज है। सब बच्चे कहते हैं याद ठहरती नहीं। तुम बाप को याद करते हो, माया फिर अपनी तरफ खींच लेती है। इस पर ही यह खेल बना हुआ है। तुम भी समझते हो हमारा बुद्धियोग जो बाप के साथ और पढ़ाई की सबजेक्ट में होना चाहिए, वह नहीं है, भूल जाते हैं। परन्तु तुम्हें भूलना नहीं चाहिए। वास्तव में इन चित्रों की भी दरकार नहीं है। परन्तु पढ़ाने समय कुछ तो आगे चाहिए ना। कितने चित्र बनते रहते हैं। पाण्डव गवर्मेन्ट के प्लैन देखो कैसे हैं। उस गवर्मेन्ट के भी प्लैन हैं। तुम समझते हो नई दुनिया में सिर्फ भारत ही था, बहुत छोटा था। सारा भारत विश्व का मालिक था। एवरीथिंग न्यु होती है। दुनिया तो एक ही है। एक्टर्स भी वही हैं, चक्र फिरता जाता है। तुम गिनती करेंगे, इतने सेकण्ड, इतने घण्टे, दिन, वर्ष पूरे हुए फिर चक्र फिरता रहेगा। आजकल करते-करते 5 हज़ार वर्ष पूरे हो गये हैं। सब सीन-सीनरी, खेलपाल होते आते हैं। कितना बड़ा बेहद का झाड़ है। झाड़ के पत्ते तो गिन नहीं सकते हैं। यह झाड़ है। इसका फाउन्डेशन देवी देवता धर्म है, फिर यह तीन ट्यूब्स (धर्म) मुख्य निकले हुए हैं। बाकी झाड़ के पत्ते तो कितने ढेर हैं। कोई की ताकत नहीं जो गिनती कर सके। इस समय सब धर्मों के झाड़ वृद्धि को पा चुके हैं। यह बेहद का बड़ा झाड़ है। यह सब धर्म फिर नहीं रहेंगे। अभी सारा झाड़ खड़ा है बाकी फाउन्डेशन है नहीं। बनेन ट्री का मिसाल बिल्कुल एक्यूरेट है। यह एक ही वन्डरफुल झाड़ है, बाप ने दृष्टान्त भी ड्रामा में यह रखा है समझाने के लिए। फाउन्डेशन है नहीं। तो यह समझ की बात है। बाप ने तुमको कितना समझदार बनाया है। अभी देवता धर्म का फाउन्डेशन है नहीं। बाकी कुछ निशानियाँ हैं – आटे में नमक। प्राय: यह निशानियाँ बाकी रही हैं। तो बच्चों की बुद्धि में यह सारा ज्ञान आना चाहिए। बाप की भी बुद्धि में नॉलेज है ना। तुमको भी सारा नॉलेज दे आपसमान बना रहे हैं। बाप बीज-रूप है और यह उल्टा झाड़ है। यह बड़ा बेहद का ड्रामा है। अभी तुम्हारी बुद्धि ऊपर चली गई है। तुमने बाप को और रचना को जान लिया है। भल शास्त्रों में है ऋषि-मुनि कैसे जानेंगे। एक भी जानता हो तो परम्परा चले। दरकार ही नहीं। जबकि सद्गति हो जाती है, बीच में कोई भी वापस नहीं जा सकता। नाटक पूरा हो तब तक सब एक्टर्स यहाँ होने हैं, जब तक बाप यहाँ है, जब वहाँ बिल्कुल खाली हो जायेंगे तब तो शिवबाबा की बरात जायेगी। पहले से तो नहीं जाकर बैठेंगे। तो बाप सारी नॉलेज बैठ देते हैं। यह वर्ल्ड का चक्र कैसे रिपीट होता है। सतयुग, त्रेता, द्वापर, कलियुग…… फिर संगम होता है। गायन है परन्तु संगमयुग कब होता है, यह किसको पता नहीं है।

तुम बच्चे समझ गये हो – 4 युग हैं। यह है लीप युग, इनको मिडगेट कहा जाता है। कृष्ण को भी मिडगेट दिखाते हैं। तो यह है नॉलेज। नॉलेज को मोड़-तोड़कर भक्ति में क्या बना दिया है। ज्ञान का सारा सूत मूँझा हुआ है। उनको समझाने वाला तो एक ही बाप है। प्राचीन राजयोग सिखलाने लिए विलायत में जाते हैं। वह तो यह है ना। प्राचीन अर्थात् पहला। सहज राजयोग सिखलाने बाप आये हैं। कितना अटेन्शन रहता है। तुम भी अटेन्शन रखते हो कि स्वर्ग स्थापन हो जाए। आत्मा को याद तो आता है ना। बाप कहते हैं यह नॉलेज जो मैं अभी तुमको देता हूँ फिर मैं ही आकर दूँगा। यह नई दुनिया के लिए नया ज्ञान है। यह ज्ञान बुद्धि में रहने से खुशी बहुत होती है। बाकी थोड़ा टाइम है। अब चलना है। एक तरफ खुशी होती है दूसरे तरफ फिर फील भी होता है। अरे, ऐसा मीठा बाबा हम फिर कल्प बाद देखेंगे। बाप ही बच्चों को इतना सुख देते हैं ना। बाप आते ही हैं – शान्तिधाम-सुखधाम में ले जाने। तुम शान्तिधाम-सुखधाम को याद करो तो बाप भी याद आयेगा। इस दु:खधाम को भूल जाओ। बेहद का बाप बेहद की बात सुनाते हैं। पुरानी दुनिया से तुम्हारा ममत्व निक-लता जायेगा तो खुशी भी होगी। तुम रिटर्न में फिर सुखधाम में जाते हो। सतोप्रधान बनते जायेंगे। कल्प-कल्प जो बने हैं वही बनेंगे और उनको ही खुशी होगी फिर यह पुराना शरीर छोड़ देंगे। फिर नया शरीर लेकर सतोप्रधान दुनिया में आयेंगे। यह नॉलेज खलास हो जायेगी। बातें तो बहुत सहज हैं। रात को सोते समय ऐसे-ऐसे सिमरण करो तो भी खुशी रहेगी। हम यह बन रहे हैं। सारे दिन में हमने कोई शैतानी तो नहीं की? 5 विकारों से कोई विकार ने हमको सताया तो नहीं? लोभ तो नहीं आया? अपने ऊपर जांच रखनी है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) योगबल से अथाह सुखों वाली दुनिया स्थापन करनी है। इस दु:ख की पुरानी दुनिया को भूल जाना है। खुशी रहे कि हम सच खण्ड के मालिक बन रहे हैं।

2) रोज़ अपनी जांच करनी है कि सारे दिन में कोई विकार ने सताया तो नहीं? कोई शैतानी काम तो नहीं किया? लोभ के वश तो नहीं हुए?

वरदान:- सदा एक बाप के स्नेह में समाई हुई सहयोगी सो सहजयोगी आत्मा भव
जिन बच्चों का बाप से अति स्नेह है, वह स्नेही आत्मा सदा बाप के श्रेष्ठ कार्य में सहयोगी होगी और जो जितना सहयोगी उतना सहजयोगी बन जाता है। बाप के स्नेह में समाई हुई सहयोगी आत्मा कभी माया की सहयोगी नहीं हो सकती। उनके हर संकल्प में बाबा और सेवा रहती इसलिए नींद भी करेंगे तो उसमें बड़ा आराम मिलेगा, शान्ति और शक्ति मिलेगी। नींद, नींद नहीं होगी, जैसे कमाई करके खुशी में लेटे हैं, इतना परिवर्तन हो जाता है।
स्लोगन:- प्रेम के आंसू दिल की डिब्बी में मोती बन जाते हैं।

TODAY MURLI 12 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 12 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 11 October 2019:- Click Here

12/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, by receiving one glance from the Father, human beings of the whole world can go beyond. This is why it is said that the soul goes beyond with a glance.
Question: Why should drums of happiness beat in the hearts of you children?
Answer: Because you know that Baba has come to take everyone back with Him. We are now to return home with our Father. After the cries of distress, there will be cries of victory. By receiving one glance from the Father, the whole world will receive the inheritance of liberation and liberation-in-life. The whole world will go beyond.

Om shanti. Spiritual Shiv Baba sits here and explains to His spiritual children. You know that there is the third eye. The Father knows that He has come to give the souls of the whole world the inheritance. There is only the remembrance of the inheritance in the Father’s heart. In the heart of a physical father too, there is the remembrance of the inheritance; he remembers that he will give an inheritance to his children. If he does not have a son, he is confused as to whom he should give it to. He then adopts a child. The Father is sitting here and His vision is drawn to the souls of the whole world. He knows that He has to give the inheritance to everyone. Although He is sitting here, His vision is on the whole world and on all the human beings of the world because He has to take the whole world beyond. The Father explains that this is the most auspicious confluence age. You know that the Father has come to take everyone to the land of peace and the land of happiness. Everyone will go beyond. Cycle after cycle, according to the dramaplan, they will go beyond. The Father remembers all the children. His vision is drawn to everyone, but not everyone studies. According to the dramaplan everyone has to return home because the play is about to end. As they go a little further, they themselves will understand that destruction is now to take place. The new world now has to be established because, after all, souls are sentient beings and it will therefore enter their intellects that the Father has come. Paradise will be established and we will return to the land of peace. Everyone else will receive liberation but you will receive liberation-in-life. Baba has now come and we will go to heaven. There will be cries of victory. At the moment, there are a lot of cries of distress. In some places there is famine, in other places there is war and in other places there are earthquakes. Thousands of people continue to die. Death has to take place. These things do not happen in the golden age. The Father knows that He will now go and that there will then be cries of victory over the whole world. I will only go to Bharat. Bharat will be like a village within this whole world. For Baba it is like a village. There will be very few human beings. In the golden age, it is as though the whole world is like a small village. There is now much expansion. The Father has everything in His intellect and He is now explaining to you children through this body. Your efforts now are the same as they have been in every cycle. The Father is the Seed of the kalpa tree. This is the corporeal tree and up above is the incorporeal tree. You know how this has been created. No other human beings have this understanding. Just see the difference between sensible ones and senseless ones. Sensible ones used to rule the kingdom of heaven. That is called the land of truth, heaven. You children should now experience a great deal of internal happiness. Baba has come and this old world is definitely going to change. However, whatever effort you make, you achieve a status accordingly. The Father is teaching everyone. Your school will continue to expand. There will be many. Not everyone can have the same school. Where could they all live? You children remember that you are now going to the land of happiness. When someone goes abroad, he lives there for eight to ten years and then returns to Bharat. Bharat is poor. Those from abroad would not be happy here. In fact, you children are not happy here either. You know that you are studying a very elevated study through which you become deities, the masters of heaven. There will be so much happiness there. Everyone remembers that happiness. You would not remember this village (iron age) because there is limitless sorrow here. Today, in this kingdom of Ravan, this impure world, there is limitless sorrow, whereas in tomorrow’s world, there will be limitless happiness. We are establishing a world of limitless happiness with the power of yoga. This is Raja Yoga. The Father Himself says: I make you into the kings of kings and so you should remember the Teacher who makes you become that. You cannot become a barrister or an engineer without a teacher. This is a new aspect. Souls have to have yoga with the Father, the Supreme Soul, the One from whom you have been separated for a long time. How long has it been? The Father Himself explains this. Human beings say that the duration of this world is hundreds of thousands of years. The Father says: No, those of you who were the first to separate come here to meet the Father again after 5000 years. You are the ones who have to make effort. Baba does not give you sweetest children any difficulty. He simply says: Consider yourselves to be souls. You are human beings. Souls are imperishable and bodies are perishable. A soul sheds a body and takes another. It is a wonder how a soul never becomes old. The One who teaches is wonderful and the study is also wonderful. However no one remembers this; everyone forgets. Does anyone remember what he studied in his previous birth? You study in this birth and you receive the result in the new world. Only you children know this. You should remember that this is now the most auspicious confluence age. You are to go to the new world. If you remember this, you will also remember the Father. The Father shows you many methods to remember Him. He is the Father, the Teacher and the Satguru. Remember Him in all three forms. He gives you many methods for remembrance but Maya makes you forget. The Father establishes the new world and it is the Father who tells you to remember that this is the auspicious confluence age and yet you are still not able to have remembrance. He shows you many methods for remembrance and, along with that, He says that Maya is very powerful. She repeatedly makes you forget and makes you body conscious. Therefore, to whatever extent possible, continue to remember Him. As you walk, sit and move around, instead of considering yourselves to be bodies consider yourselves to be souls. This requires effort whereas knowledge is very easy. All the children say that they are unable to stay in remembrance. You try to remember the Father and Maya pulls you to herself. There is a play created about this. Although you understand that your intellects should be in yoga with the Father and with the subject of this study, you still forget. However, you should not forget. In fact, there is no need for these pictures, but you do need something in front of you at the time of teaching. Many pictures continue to be made. Just look at the plan of the Pandava Government. That Government too has plans. You understand that there was just Bharat in the new world, and that it was very small. The whole of Bharat was the master of the world; everything was new. There is only one world and the actors are also the same. The cycle continues to turn. You can count how many seconds, how many hours, how many days and years have passed by as the cycle continues to turn. Saying today, tomorrow, today, tomorrow, 5000 years have passed by. All the scenes and sceneries and games continue to take place. It is such a huge unlimited tree. You cannot count the leaves of a tree. This is a tree and its foundation is the deity religion and then three main tubes (religions) emerge. However, there are countless leaves on a tree. No one has the strength to count them. At this time, the tree of all the religions has reached the end of expansion. This is an unlimited, huge tree. Later, none of those religions will exist. The whole tree is now standing, but the foundation no longer exists. The example of the banyan tree is absolutely accurate. This is the only wonderful tree. The Father uses this example to explain the drama. It is a matter of understanding how the foundation does not exist. The Father has made you so sensible. There is now no foundation of the deity religion, but there are some signs of it. They are like a pinch of salt in a sackful of flour. Everything has disappeared; only those signs remain. Therefore, all of this knowledge should enter the intellects of you children. There is knowledge in the Father’s intellect too. He gives you all the knowledge and makes you equal to Himself. The Father is the Seed and this is the inverted tree. This is an unlimited, huge drama. Your intellects have now been drawn up above. You have come to know the Father and creation. Although these things are mentioned in the scriptures, the rishis and munis do not know them. If even one person knew this, it could exist eternally. Then, there would be no need for it since salvation would have taken place. No one is able to return home in between. All the actors will continue to be here until the play is over and for as long as the Father is here. Then, when that place (soul world) is completely empty, the procession of Shiv Baba will return home. No one will go and sit there before that. Therefore, the Father sits here and gives you the whole knowledge. He explains how the cycle of the world repeats. There is the golden age, the silver age, the copper age and the iron age and then there is the confluence. This has been remembered but no one knows when the confluence age existed. You children have understood that there are four ages and that this is the leap age. This is called a midget. Krishna has also been shown as a midget. So this is knowledge; by changing and moulding it, just look what they have made on the path of devotion! The whole thread of knowledge is totally tangled. Only the one Father can explain to them. People go abroad to teach ancient Raja Yoga. This is in fact that yoga. Ancient means the very first. The Father has come to teach easy Raja Yoga. There has to be so much attentionpaid. You also pay attention to heaven being established. The soul remembers this. The Father says: I will again come and give you the same knowledge that I give you now. This is new knowledge for the new world. By keeping this knowledge in your intellects, you will experience a great deal of happiness. Very little time now remains. You now have to return home. On the one hand, there is happiness and, on the other, there is also the feeling that we will not see such a sweet Baba again until the next cycle. Only the Father gives you children so much happiness. The Father comes to take you to the land of peace and the land of happiness. If you remember the land of peace and the land of happiness you will also be able to remember the Father. Forget this land of sorrow. The unlimited Father tells you unlimited things. When attachment to the old world is removed, there will be happiness and then, in return, you will go to the land of happiness. You will continue to become satopradhan. Those who have become this every cycle will do so again; they will experience happiness and then they will leave their old bodies. They will then go to the satopradhan world and adopt new bodies. This knowledge will have then finished. These things are very easy. At the time of going to sleep at night, churn these things and there will be great happiness that this is what you are becoming. Examine yourself to see if you performed any devilish acts throughout the day. Did the five vices cause you any distress? Was there any greed? You have to keep checking yourself. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. With the power of yoga, establish the world of limitless happiness. Forget this old world of sorrow. Let there be the happiness that we are becoming the masters of the land of truth.
  2. Check yourself every day: Did any vice cause any distress throughout the day? Did I perform any devilish acts? Did I come under the influence of greed?
Blessing: May you be a co-operative and so an easy yogi soul who is always merged in love for the one Father.
Those loving children who have deep love for the Father will always be co-operative in the Father’s elevated task and, to the extent that they co-operate, they will accordingly become easy yogis. Co-operative souls who are merged in love for the Father can never co-operate with Maya; they have “Baba” and service in their every thought. Therefore, even when they are asleep, they sleep very comfortably and receive peace and power. Their sleep will not be sleep, but it will be as though they have earned a huge income and are lying down in happiness; there will be that much transformation.
Slogan: Tears of love become pearls in the container of the heart.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 12 OCTOBER 2017 DAILY MURLI (English)

12/10/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to remove your intellect’s yoga from this impure world and become an unlimited sannyasi. To be a sannyasi means to become a completely pure and firm yogi.
Question: When you have which stage will the storms of Maya end?
Answer: When your intellect’s yoga is broken from the consciousness of “mine”, that is, “my husband”, “my children” etc., your intellect will then become firm in: “Mine is one Shiv Baba and none other”. When your intellect’s yoga is fully connected to the one Father, the storms of Maya will end.
Song: Who has come to the door of my mind in the early morning hours?

Om shanti. God speaks. You children have understood that the Father of souls is the One who is called the Supreme Father, the Supreme Soul. The Father Himself explains: I don’t have a big physical form. Just as it is said of a soul that it is a star residing in the centre of the forehead, similarly, I too am the Supreme Soul. His praise is greater. He is the Ocean of Knowledge, but He isn’t as big as that image. If He were that big, He wouldn’t be able to push Himself into this body. It is when they worship a Shivalingam that they make it a big form. They say that He is thumb shaped. Soul means soul. It is just that He is called the Supreme Soul and that He resides in the supreme abode. You know that, at this time, it is the devil’s world, the devilish community. In the golden age, there was the kingdom of deities in Bharat. It is now the devilish kingdom. Look what they eat! To eat meat and drink alcohol etc. is to have impure food. People don’t even understand this. In a school, too, some have very good thoughts, some have rajoguni thoughts and others have tamoguni thoughts. Those who are unable to explain to others are called buddhus. Among the Brahma Kumars and Kumaris there are many numberwise maharathis, cavalry and infantry who are unable to explain very well. Because of not having full knowledge, they continue to do disservice. To the extent that someone has knowledge, so he will accordingly be able to explain; it is numberwise. Sometimes, they still make mistakes. You children should have the intoxication that you are becoming deities. The Father Himself says: I enter the world of impure ones. In the golden age, this one was Narayan and I have now entered his body once again to make him into Narayan from an ordinary man. He was the number one worthy-of-worship soul and he then became the number one worshipper. This one has an allround part. This is My fixed body; it cannot change. It isn’t that I would sometimes give a chance to someone else. This drama is predestined. There cannot be any change in this. Baba says: I enter the world of impure ones, but if you tell someone he is impure, he would get upset. However, when God says that all are part of the devilish community, this has to be accepted. “God” means incorporeal God, not Brahma, Vishnu, Shankar or Krishna. He says: I, the Supreme Soul, am the same as you. God speaks: I have come to teach you Raja Yoga. There is so much praise of yoga. Many yoga ashrams have opened. They teach hatha yoga there. However, with the power of yoga you make the whole world into heaven; you transform the world. The whole world will not stay in yoga. There is so much praise of the yoga through which Bharat especially becomes heaven. However, no one knows who made it into heaven. There must definitely have been someone who created heaven. The Father says: Only I come and teach you actions for you to become deities. This is very easy. Those people have many sacrificial fires. Do you have any sacrificial fires etc. here? Only for their fragrance do you burn incense sticks. Otherwise, there are no rituals here. The Father gives you His own introduction: I too am a soul like you, but I don’t take rebirth. I take birth, but I don’t die. People celebrate My birthday. I keep coming and going from this body in order to teach you, and so this is not called death. I come to make you into deities. It then depends on who comes and studies. Those who studied in the previous cycle will come and study again. You are the same long-lost and now-found, beloved children who became separated from Me a long time ago. Others don’t take 84 births. We are the ones who go around the cycle of the full 84 births. People get very fed up if they have to take many births. They tell you that they don’t want to come into the cycle of 84 births. However, we are so strong and brave that we become even happier. By remembering this cycle of 84 births, we become the rulers of the globe. They have shown a cycle in their flag but they have then made it into a spinning wheel. Your Coat of Arms is correct compared to that. At the top is Shiv Baba, below that is the Trimurti; the cycle is also accurate in that. Your flag of Shiva is absolutely accurate. It has been explained to you that there are two types of renunciation. One is renunciation for the path of isolation where they go to the forests. That is half renunciation. Yours is full renunciation. Of what? You renounce the whole of the devilish world. “My husband, my children, my guru”; you break your intellect’s yoga away from all of that consciousness of “mine”. “Mine is one Shiv Baba and none other.” Until you make this your stage, storms will continue to come and you will continue to fluctuate. The Father inspires you to renounce the whole of the devilish world because it is all to be destroyed. Those people don’t say that everything is to be destroyed. You are living with your relatives but, while seeing all of them, your intellects are connected up there. “Nothing belongs to me. So with whom would I indulge in lust or get angry?” This is a very good tactic, but only when it sits in your intellects! This is called Raja Yoga. You have yoga and claim your kingdom. Theirs is hatha yoga. These are deep points. There are many yogis in the world, but Baba says: Not a single one has yoga with Me. Instead of having yoga with Me, they have yoga with My place of residence, the brahm element. Just as the people of Bharat have considered Hindustan, their place of residence, to be their religion, in the same way, they also consider themselves to be children of brahm. However, they don’t in fact even consider themselves to be children, because if they were children, there would have to be an inheritance. They say that they will merge into the element. Baba has experienced all of that. He has experienced all of that with many sannyasis and gurus. They also portray Arjuna as having had many gurus. All of you are Arjuna. At this time there is Ravan’s kingdom over the whole world. The whole world is Lanka. It isn’t just the island of Ceylon that is Lanka. That is the limited Lanka, whereas the whole world is the unlimited Lanka. There is now Ravan’s kingdom over the whole world. There weren’t so many human beings in Rama’s kingdom. When it is Rama’s kingdom, Ravan’s kingdom doesn’t exist. Where does it go? It goes down below. Then, when Ravan’s kingdom comes, Rama’s kingdom goes below. This is the drama. As the cycle turns, the golden age comes up. The copper and iron ages go down and the golden and silver ages come up from down below. It is just a matter of the cycle. Although they have written it like that, it isn’t that it goes beneath the sea or that it emerges from the sea. The Father says: These are very deep things that have to be understood. Purity is first in this and then there also has to be very powerful yoga. This is called complete renunciation. Remove the intellect’s yoga from this world. Among you too, only some of you understand these things. If you were all to understand you would become Ganges of knowledge, small rivers and canals. Even if you were to become a pond and explain to people at home, it would be understood that you have understood something! However, some are not even able to explain at home. The Father says: No matter how poor you may be, you can open a small Gita pathshala at home even if you only have one room where you eat and sleep. Once you have done what you need to, then clear everything away and set the place up for class. You can open such a big hospital on three square feet of land. Leave aside the wealthy ones; the Father is the Lord of the Poor. Wealthy ones say that this is heaven for them. Baba says: OK, stay happy in your heaven! Why should I give you anything? Donations are always given to the poor. If important people had to sit on the floor, they would be offended. Therefore, Baba says: You may live in your palaces. The poor who can study well can come to Me. If you’re unable to relate this to others, you are not even a small lake. You have to become big rivers. You have to follow Mama and Baba. However, if you’re unable to relate anything at home, you are not even like a handful of water. Baba enjoys Himself in front of the Ganges of knowledge. Some listen to Baba personally and become very happy, but as soon as they get up from here and go down the stairs, their intoxication also goes down. Then, as soon as they reach home, they begin to gossip again. Baba can understand from their behaviour. Some come to meet Baba and speak of their husband and children. Where did your husband come from? You come here in order to go to heaven and you are still trapped in this consciousness of “mine”! OK, this much dose is enough. You should only be given as much as you can digest. Baba has explained to you in a nutshell. You are establishing heaven with yoga, but you need knowledge for a sovereignty; there are the two subjects. Baba also makes effort to stay in yoga and this is why he says: Don’t remember and don’t forget! Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Completely renounce this old world. Claim the first number in the subjects of purity and yoga.
  2. Become the Ganges of knowledge and serve to make impure ones pure. Follow Mama and Baba and become big rivers.
Blessing: May you be a spinner of the discus of self-realisation and finish all questions with awareness of the knowledge of the time.
The children who are spinners of the discus of self-realisation and have had a vision of the self automatically have a vision of the world cycle. Those who know the secrets of the drama remain constantly happy. They can never have questions such as “Why?” or “What?” because within the drama, the self is benevolent and the time is also benevolent. Those who look at the self and become spinners of the discus of self-realisation easily continue to move forward.
Slogan: In order to serve all souls truly, have pure and positive thoughts for everyone.

*** Om Shanti ***

Invaluable versions of Mateshwariji

Lots of proof that God is not omnipresent.

Versions of God are written in the Gita, which is the jewel of all scriptures: Children, where there is victory, I am there”. These are the elevated versions of the Supreme Soul. I am in the Himalayas, and I am in the snake which is known as Kali. Of the mountains, the Kailash mountain is said to be the highest of all, and among the snakes, the Kali snake is said to be the greatest. This proves that if out of all snakes, God is just in the black snakes, then He does not reside in all the other snakes. If God is in the highest mountain of all, then it means He is not in the mountains that are lower. Then, it is said: Where there is victory, I take birth: This means I am not there when there is defeat. All of these things prove that God is not omnipresent. On the one hand, they say this and then, on the other hand, they say that God incarnates in many forms, just as they have shown 24 incarnations of God. They say that God is in the fish and the crocodiles. All of that is false knowledge. In this way, they have understood God to be present everywhere, whereas it is Maya at this time of the iron age that is present everywhere. So, how can God be present everywhere? It also says in the Gita: I do not reside in Maya. This proves that God is not present everywhere.

The i ncorporeal w orld means the residence of souls.

We know that when we speak of the incorporeal world, “incorporeal” does not mean that it does not have any shape or form. When we speak of the incorporeal world, it means that there definitely is a world, but that it doesn’t have a form or shape in the same way as the physical world. Similarly, God is incorporeal and He definitely has a subtle form (point of light). So, the land of us souls and of God is the incorporeal world. When we say, “world”, it proves that there is that world and we reside there and this is why it is called a world. People of the world think that God’s form is of the element of eternal light. That is the place of residence of God, which is called a retired home. We cannot call God’s home, God. The other world is the subtle world, where Brahma, Vishnu and Shankar reside in their angelic forms, and this is the physical world which is split into two. One is the world of viceless heaven where there is only happiness, purity and peace for half the cycle. The other is the vicious, iron-aged world of sorrow and peacelessness. Why are these called two worlds? Because people say that both heaven and hell are created by God. God’s versions for this are: Children, I did not create a world of sorrow. The world that I created is a world of happiness. This is now the world of sorrow and peacelessness. Because people have forgotten themselves and Me, the Supreme Soul, they are suffering these karmic accounts. It isn’t that when there is the world of happiness and charity, there isn’t a world. Yes, definitely, when we say that that is the residence of the deities, then there is every type of activity there, but there definitely is no creation of vices there. Because of that, there are no karmic bondages. That world is called the heavenly world without any karmic bondage. One is the incorporeal world and the other is the subtle world and the third is the physical world. Achcha. Om shanti.

 

[wp_ad_camp_5]

 

BRAHMA KUMARIS MURLI 12 OCTOBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

12/10/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम्हें इस पतित दुनिया से अपना बुद्धियोग निकाल बेहद का सन्यासी बनना है, सन्यासी माना पूरे पवित्र और पक्के योगी”
प्रश्नः- कौन सी अवस्था आते ही माया के तूफान समाप्त हो जाते हैं?
उत्तर:- जब मेरा पति, मेरा बच्चा…. इस मेरे-मेरे से बुद्धियोग टूट जायेगा। मेरा तो एक शिवबाबा दूसरा न कोई – यह बुद्धि में पक्का होगा। एक बाप से ही पूरा बुद्धियोग लगा होगा तब माया के तूफान समाप्त हो जायेंगे।
गीत:- कौन आया मेरे मन के द्वारे….

ओम् शान्ति। भगवानुवाच – यह तो बच्चे समझ गये हैं कि आत्माओं का बाप, उसे कहा जाता है परमपिता परम आत्मा। बाप खुद समझाते हैं – मेरा कोई आकार में बड़ा रूप नहीं है। जैसे आत्मा के लिए कहते हैं स्टार है, भ्रकुटी के बीच में रहती है। वैसे मैं भी परम आत्मा हूँ, उसकी महिमा बड़ी है। ज्ञान सागर है। बाकी इतना बड़ा चित्र जैसे नहीं है। इतना बड़ा होता तो इस शरीर में घुस नहीं सकता। यह तो शिवलिंग की पूजा करते हैं तो बड़ा बनाते हैं। अंगूठे सदृश्य कहते हैं। आत्मा माना आत्मा सिर्फ उनको परम कहते हैं, जो परमधाम में रहते हैं। तुम जानते हो इस समय है डेविल वर्ल्ड, आसुरी सम्प्रदाय। सतयुग में इस भारत पर देवताओं का राज्य था, अब तो आसुरी राज्य है। देखो, क्या-क्या खा जाते हैं! मास मदिरा यह राक्षसी आहार है, इस बात को भी नहीं समझते हैं। स्कूल में भी कोई के अच्छे ख्यालात, कोई के रजोगुणी, कोई के तमोगुणी होते हैं। जो दूसरों को समझा नहीं सकते उनको बुद्धू कहेंगे। ब्रह्माकुमार कुमारियों में भी नम्बरवार महारथी, घोड़ेसवार, प्यादे बहुत हैं जो अच्छी रीति समझा नहीं सकते हैं। ज्ञान पूरा न होने कारण डिससर्विस करते हैं। जितना जिसमें ज्ञान है, उतना समझायेंगे। नम्बरवार तो हैं। कहाँ भूलें भी करते हैं। बच्चों को नशा होना चाहिए कि हम तो देवता बन रहे हैं। बाप खुद कहते हैं मैं पतितों की दुनिया में आता हूँ। सतयुग में यही नारायण था – अब फिर इनके तन में आया हूँ, इनको ही नर से नारायण बनाता हूँ। नम्बरवन पूज्य भी यह था, अब नम्बरवन पुजारी भी यह बना है। फिर इनका ही आलराउन्ड पार्ट है। यह मेरा मुकरर तन है। यह चेन्ज नहीं हो सकता। ऐसे नहीं कब दूसरे को चांस दूँ। यह ड्रामा बना बनाया है। इसमें चेन्ज नहीं हो सकती। बाबा कहते हैं मैं आता हूँ पतितों की दुनिया में, परन्तु कोई को पतित कहो तो बिगड़ पड़ेंगे। परन्तु जब भगवानुवाच है कि सब आसुरी सम्प्रदाय हैं तो मानना पड़ेगा। भगवान माना भगवान निराकार, न ब्रह्मा, न विष्णु, न शंकर, न कृष्ण… कहते हैं मैं परमात्मा भी तुम्हारे जैसा हूँ। भगवानुवाच मैं तुमको राजयोग सिखाने आया हूँ। योग की कितनी महिमा है। बहुत योग आश्रम खुले हैं। उसमें हठयोग आदि सिखलाते हैं। परन्तु तुम योगबल से सारे विश्व को स्वर्ग बनाते हो। विश्व को परिवर्तन करते हो। सारी दुनिया तो योग में नहीं रहती, योग की कितनी महिमा है, जिससे खास भारत स्वर्ग बनता है। परन्तु कोई को पता नहीं तो इसको स्वर्ग किसने बनाया है? जरूर ऐसा कोई स्वर्ग बनाने वाला होगा। बाप कहते हैं मैं ही आकर देवता बनने का कर्म सिखलाता हूँ। यह तो बड़ा सहज है। वह बहुत यज्ञ करते हैं। यहाँ तुम कोई यज्ञ हवन करते हो क्या? धूप भी खुशबू के लिए जलाते। बाकी यहाँ कर्मकाण्ड की कोई बात नहीं। तो बाप अपना परिचय देते हैं कि मैं आत्मा हूँ जैसे तुम हो। परन्तु मैं पुनर्जन्म नहीं लेता हूँ, जन्म लेता हूँ परन्तु मरण में नहीं आता, मेरी जयन्ती मनाते हैं। मैं इस तन में पढ़ाने के लिए आता जाता रहता हूँ तो इसको मृत्यु नहीं कहेंगे। मैं आता हूँ देवता बनाने। अब जो आकर पढ़ेंगे…, पढ़ेंगे भी वही जिन्होंने कल्प पहले पढ़ा होगा। बहुतकाल से बिछुड़े हुए वही सिकीलधे बच्चे हैं, दूसरे थोड़ेही 84 जन्मों में आते हैं, हम ही सारा 84 का चक्र लगाते हैं। मनुष्य तो बहुत जन्म लेने से तंग होते हैं, तुमको कहेंगे हम 84 के चक्र में नहीं आने चाहते हैं। परन्तु हम कितने पहलवान हैं जो और ही खुश होते हैं। हम इस 84 के चक्र को याद करते-करते चक्रवर्ती राजा बन जाते हैं। उन्हों के झण्डे में भी चक्र है, फिर उन्होंने चर्खा बना दिया है। उनके सामने तुम्हारा कोट आफ आर्मस ठीक है। ऊपर में शिवबाबा, नीचे त्रिमूर्ति और चक्र बिल्कुल ठीक लगा है। यह तुम्हारा शिव का झण्डा बिल्कुल ठीक है।

तुमको समझाया है सन्यास दो प्रकार का है। एक है निवृत्ति मार्ग का सन्यास जो जंगल में जाते हैं, वह है हाफ सन्यास। तुम्हारा है फुल सन्यास। किसका? सारी आसुरी दुनिया का सन्यास करते हो मेरा पति, मेरा बच्चा, मेरा गुरू… उन सब मेरे-मेरे से बुद्धियोग तोड़ते हो। मेरा तो एक शिवबाबा दूसरा न कोई। जब तक यह अवस्था नहीं आयेगी तब तक तूफान आते रहेंगे। झोके खाते रहेंगे। बाप सारी आसुरी दुनिया का सन्यास कराते हैं क्योंकि यह सब भस्म होना है। वह ऐसे नहीं कहते सब भस्म होना है। तुम रहते सम्बन्धियों के बीच में हो परन्तु उनको देखते बुद्धि वहाँ लगी हुई है। मेरा कुछ है नहीं। तो काम क्रोध किससे होगा! यह युक्ति बहुत अच्छी है, परन्तु जब बुद्धि में बैठे। इसको राजयोग कहा जाता है। तुम योग लगाते हो, राजाई लेते हो। वह है हठयोग। यह गुह्य प्वाइंट्स हैं। योगी तो दुनिया में बहुत हैं। परन्तु बाबा कहते हैं एक का भी मेरे से योग नहीं है। मेरे बदले मेरे निवास स्थान ब्रह्म तत्व से योग है। जैसे भारतवासी अपने निवास स्थान, हिन्दुस्तान को अपना धर्म समझ बैठे हैं। वैसे वह भी अपने को ब्रह्म का बच्चा समझते हैं। बच्चे भी नहीं कहते। बच्चा कहें तो फिर वर्सा चाहिए। वह तो कहते कि तत्व में लीन होंगे। बाबा को तो अनुभव है। बहुत सन्यासियों, गुरूओं से अनुभव किया। अर्जुन को भी दिखाते हैं बहुत गुरू थे। तुम सब अर्जुन हो। इस समय सारी दुनिया पर रावण का राज्य है, सारी दुनिया लंका है। एक सीलान का बेट (द्विप) लंका नहीं। वह हद की लंका है। परन्तु बेहद की लंका तो सारी दुनिया है। अब सारी दुनिया पर रावण का राज्य है। राम के राज्य में इतने मनुष्य नहीं थे। जब रामराज्य है तो रावणराज्य नहीं। कहाँ चला जाता है? नीचे पाताल में चला जाता है। फिर रावण राज्य आता है तो रामराज्य नीचे चला जाता है। यह ड्रामा है ना। जब चक्र फिरता है तब सतयुग ऊपर आ जाता है। द्वापर, कलियुग नीचे चला जायेगा तो सतयुग त्रेता नीचे से ऊपर आ जायेगा। है चक्र की बात, उन्होंने ऐसे लिख दिया है। बाकी कोई सागर में नहीं चला जाता है वा सागर से निकल नहीं आता है।

बाप समझाते हैं यह बड़ी गुह्य समझने की बातें हैं। इसमें पवित्रता है फर्स्ट और योग पक्का चाहिए। इसको कहा जाता है कम्पलीट सन्यास। इस दुनिया से बुद्धियोग खलास। यह बातें तुम्हारे में भी कोई समझते होंगे। सब समझें तो ज्ञान गंगा बन जायें। छोटी नदी बनें, कैनाल्स बनें। अच्छा टुबका बन घर में सुनायें तो भी समझें कि कुछ समझा है। परन्तु घर में भी नहीं बता सकते। बाप कहते हैं कि कैसा भी गरीब हो परन्तु घर में गीता पाठशाला खोल सकते हैं। भल एक ही कमरा हो उसमें खाते पीते सोते हो। अच्छा काम उतार सफाई कर फिर यह क्लास लगाओ। तीन पैर पृथ्वी में इतनी बड़ी हॉस्पिटल खोल सकते हो। साहूकार की बातें छोड़ो। बाप तो गरीब निवाज़ है ना। साहूकार तो बोलते कि हमें तो यहाँ ही स्वर्ग है। तो बाबा कहते हैं अच्छा तुम अपने स्वर्ग में ही खुश रहो। मैं तुमको क्यों दूँ। दान भी गरीब को दिया जाता है। बड़ा आदमी तो यहाँ जमीन में बैठने से चमकेंगे। तो बाबा कहते हैं कि भल अपने महलों में रहो। मेरे पास तो गरीब आयें जो अच्छी तरह पढ़ें। अगर दूसरे को नहीं सुना सकते तो छोटा तालाब भी नहीं ठहरे। तुमको तो बड़ी नदी बनना है। मम्मा बाबा को फालो करना है। परन्तु घर में भी नहीं सुना सकते तो चुल्लू पानी (हथेली में पानी) की तरह भी नहीं ठहरे। बाबा को तो मजा आयेगा ज्ञान गंगाओं के सामने। कई बाबा के सम्मुख सुनते हैं तो खुश होते हैं। परन्तु यहाँ से उठे सीढ़ी नीचे उतरे तो नशा भी उतरता जाता है। फिर घर पहुँचे तो फिर वही झरमुई झगमुई (परचिंतन) चालू। बाबा तो चलन से समझ जाते हैं। आते हैं मिलने। कहते हैं मेरा पति, मेरा बच्चा है। अरे तुमको पति कहाँ से आया? आती हो स्वर्ग में चलने फिर भी मेरे-मेरे में फंसी हो। अच्छा इतना डोज़ काफी है। देना इतना चाहिए जितना हज़म कर सकें। बाबा ने नटशेल में बताया है। योग से तुम स्वर्ग की स्थापना कर रहे हो। बाकी बादशाही के लिए नॉलेज चाहिए। दो सब्जेक्ट हैं। बाबा भी योग में रहने का पुरुषार्थ करते हैं तब कहते ना – न बिसरो न याद रहो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चो को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1- इस पुरानी दुनिया का कम्पलीट सन्यास करना है। पवित्रता और योग की सब्जेक्ट में फर्स्ट नम्बर लेना है।

2- ज्ञान गंगा बन पतितों को पावन बनाने की सेवा करनी है। मम्मा बाबा को फालो कर बड़ी नदी बनो।

वरदान:- समय के ज्ञान को स्मृति में रख सब प्रश्नों को समाप्त करने वाले स्वदर्शन चक्रधारी भव 
जो स्वदर्शन चक्रधारी बच्चे स्व का दर्शन कर लेते हैं उन्हें सृष्टि चक्र का दर्शन स्वत: हो जाता है। ड्रामा के राज़ को जानने वाले सदा खुशी में रहते हैं, कभी क्यों, क्या का प्रश्न नहीं उठ सकता क्योंकि ड्रामा में स्वयं भी कल्याणकारी हैं और समय भी कल्याणकारी है। जो स्व को देखते, स्वदर्शन चक्रधारी बनते वह सहज ही आगे बढ़ते रहते हैं।
स्लोगन:- अनेक आत्माओं की सच्ची सेवा करनी है तो शुभचिंतक बनो।

मातेश्वरी जी के अनमोल महावाक्य

1) ‘ईश्वर सर्वव्यापी नहीं है उनके लिये अनेक साबती (सबूत)’

अब यह जो शिरोमणी गीता में भगवानुवाच है बच्चे, जहाँ जीत है वहाँ मैं हूँ, यह भी परमात्मा के महावाक्य हैं। पहाड़ों में जो हिमालय पहाड़ है उसमें मैं हूँ और सांपों में काली नाग मैं हूँ इसलिए पर्वत में ऊंचा पर्वत कैलाश पर्वत दिखाते हैं और सांपों में काली नाग, तो इससे सिद्ध है कि परमात्मा अगर सर्व सांपों में केवल काले नाग में है, तो सर्व सांपों में उसका वास नहीं हुआ ना। अगर परमात्मा ऊंचे ते ऊंचे पहाड़ में है गोया नीचे पहाड़ों में नहीं है और फिर कहते हैं जहाँ जीत वहाँ मेरा जन्म, गोया हार में नहीं हूँ। अब यह बातें सिद्ध करती हैं कि परमात्मा सर्वव्यापी नहीं है। एक तरफ ऐसे भी कहते हैं और दूसरे तरफ ऐसे भी कहते हैं कि परमात्मा अनेक रूप में आते हैं, जैसे परमात्मा को 24 अवतारों में दिखाया है, कहते हैं कच्छ मच्छ आदि सब रूप परमात्मा के हैं। अब यह है उन्हों का मिथ्या ज्ञान, ऐसे ही परमात्मा को सर्वत्र समझ बैठे हैं जबकि इस समय कलियुग में सर्वत्र माया ही व्यापक है तो फिर परमात्मा व्यापक कैसे ठहरा? गीता में भी कहते हैं कि मैं फिर माया में व्यापक नहीं हूँ, इससे सिद्ध है कि परमात्मा सर्वत्र नहीं है।

2) ‘निराकारी दुनिया अर्थात् आत्माओं के रहने का स्थान’

अब यह तो हम जानते हैं कि जब हम निराकारी दुनिया कहते हैं तो निराकार का अर्थ यह नहीं कि उनका कोई आकार नहीं है, जैसे हम निराकारी दुनिया कहते हैं तो इसका मतलब है जरूर कोई दुनिया है, परन्तु उसका स्थूल सृष्टि मुआफिक आकार नहीं है, ऐसे परमात्मा निराकार है लेकिन उनका अपना सूक्ष्म रूप अवश्य है। तो हम आत्मा और परमात्मा का धाम निराकारी दुनिया है। जब हम दुनिया अक्षर कहते हैं, तो इससे सिद्ध है वो दुनिया है और वहाँ रहते हैं तभी तो दुनिया नाम पड़ा, अब दुनियावी लोग तो समझते हैं परमात्मा का रूप भी अखण्ड ज्योति तत्व है, वो हुआ परमात्मा के रहने का ठिकाना, जिसको रिटायर्ड होम कहते हैं। तो हम परमात्मा के घर को परमात्मा नहीं कह सकते हैं। अब दूसरी है आकारी दुनिया, जहाँ ब्रह्मा विष्णु शंकर देवतायें आकारी रूप में रहते हैं और यह है साकारी दुनिया, जिनके दो भाग है – एक है निर्विकारी स्वर्ग की दुनिया जहाँ आधाकल्प सर्वदा सुख है, पवित्रता और शान्ति है। दूसरी है विकारी कलियुगी दु:ख और अशान्ति की दुनिया। अब वो दो दुनियायें क्यों कहते हैं? क्योंकि यह जो मनुष्य कहते हैं स्वर्ग और नर्क दोनों परमात्मा की रची हुई दुनिया है, इस पर परमात्मा के महावाक्य है बच्चे, मैंने कोई दु:ख की दुनिया नहीं रची जो मैंने दुनिया रची है वो सुख की रची है। अब यह जो दु:ख और अशान्ति की दुनिया है वो मनुष्य आत्मायें अपने आपको और मुझ परमात्मा को भूलने के कारण यह हिसाब किताब भोग रहे हैं। बाकी ऐसे नहीं जिस समय सुख और पुण्य की दुनिया है वहाँ कोई सृष्टि नहीं चलती। हाँ, अवश्य जब हम कहते हैं कि वहाँ देवताओं का निवास स्थान था, तो वहाँ सब प्रवृत्ति चलती थी परन्तु इतना जरूर था वहाँ विकारी पैदाइस नहीं थी, जिस कारण इतना कर्मबन्धन नहीं था। उस दुनिया को कर्मबन्धन रहित स्वर्ग की दुनिया कहते हैं। तो एक है निराकारी दुनिया, दूसरी है आकारी दुनिया, तीसरी है साकारी दुनिया। अच्छा – ओम् शान्ति।

 

[wp_ad_camp_5]

 

Font Resize