12 March ki murli

TODAY MURLI 12 MARCH 2021 DAILY MURLI (English)

12/03/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, save yourself from the influence of bad company and pay full attention to the study and then no storms can come to you. Don’t blame Maya.
Question: To what one aspect should you constantly pay attention so that your boat can go across?
Answer: “Baba, whatever Your orders are!” Constantly continue to follow the Father’s orders and your boat will go across. Those who follow orders are protected from being attacked by Maya. The locks on their intellects open and they experience limitless happiness. They never perform any wrong actions.
Song: Having found You, I have found the whole world.

Om shanti. All the sweetest children at all the centres heard the song. All of you understand that you are once again claiming the sovereignty of the world from the unlimited Father, exactly as you did 5000 years ago. We have been claiming it every cycle. We claim the kingdom and then lose it. You children understand that you have now gone into the lap of the unlimited Father, that is, you have become His children. You are truly those. While sitting at home, you are making effort. Continue with this study in order to claim a high status from the unlimited Father. You know that the Ocean of Knowledge, the Purifier, the Bestower of Salvation for All, Shiv Baba, is our Father, Teacher and Satguru. We are claiming the inheritance from Him, and we should therefore make so much effort to claim a high status. On the path of ignorance, when children study at school, the marks they pass with are numberwise according to how they study. No one there says that Maya is causing them obstacles or that there are storms of Maya. Either they don’t study properly or they get caught up in bad company; they are busy playing games. That is why they don’t study and why they therefore fail. However, that cannot be called storms of Maya. When someone’s behaviour is not very good, the certificate that the teacher gives him says that his behaviour is not very good and that he has been spoilt by the bad company he keeps. There is no question of blaming Maya, Ravan, in that. Some children of eminent, good people become very good, whereas others become spoilt and start drinking etc. They go in a wrong, a dirty direction. Then their father says that they have become unworthy. There are many subjects in other studies. Here, there is only one type of study. There, human beings teach, whereas here, you children know that God is teaching you. If you study well you can become the masters of the world. There are many children; some are unable to study because of the influence of bad company. Why should you call that the storms of Maya? If someone doesn’t study because of bad company, what can Maya, the Teacher or the Father do? When they are unable to study, they just go back home. According to the drama, they had to come into the bhatthi at first; they came and took refuge. Some were beaten and harassed by their husbands and others had disinterest. They weren’t able to stay at home, so they came here but, even after that, they also left here. They were unable to study and so they found a job or got married. Here, they just make the excuse that they are unable to study because of the storms of Maya. They don’t understand that their condition has become like that because of the influence of bad company and that they have many strong vices. Why do you say that you fell because you experienced storms of Maya? It all depends on you. Follow the teachings that you receive from the Father, Teacher and Satguru. If you don’t follow them, it means that there is the influence of bad company or the intoxication of lust or body consciousness. Those from all the centres understand that they are studying with the unlimited Father to receive the sovereignty of the world. If you don’t have this faith, why are you sitting here? There are many other ashrams. However, there is no attainment there. There is no aim or objective there. They are all small sects and cults, branches and twigs. The tree has to grow. Here, all of this is connected. Those who belong to the sweet deity tree will emerge. Who are the sweetest of all? Those who become the emperor and empress of the golden age. You now understand that those who claim number one must definitely have studied very well. They went into the sun-dynasty kingdom. There are many who live a surrendered life and do a lot of service while living at home. There is so much difference! Although some live here, they are unable to teach, and so they engage themselves in other work. They will attain a small royal status towards the end. It has been seen that the people who live outside at home with their families go ahead very fast in studying and teaching others. Not everyone is a householder. Kumaris and kumars are not called householders. It used to be that those who retired at the age of 60 would hand everything over to their children and go and live with a sage etc. Nowadays, everyone is tamopradhan, and so they don’t even let go of their business etc. until they are about to die. In earlier days, they would retire at the age of 60; they would go and live at Benares. You children understand that no one can return home. No one can attain salvation. Only the Father is the Bestower of Liberation and Liberation-in-Life. Not everyone attains liberation-in-life; some go into liberation. The original, eternal, deity religion is now being established. It then depends on whatever effort each one makes. In that too, kumaris have a very good chance. They too become heirs of the parlokik Father. Here, all the children have a right to claim the inheritance from the Father. Outside, daughters don’t receive an inheritance. The sons are greedy for it. There are some who feel they should claim the inheritance that they would receive anyway and wonder why they should let go of it. They study both studies. There are many varieties of children. You understand that those who study well will claim a high status; they will become very wealthy subjects. Those who are living here will have to live inside (the palaces). They will become maids and servants. Then, they would perhaps take three, four or five births in a kingdom at the end of the silver age. The wealthy ones who always have wealth from the beginning of the golden age are much better off. Why should those who live at home with their families not claim a wealthy status? They try to claim a royal status. However, if you slip and fall, you would then have to make effort to claim a high status amongst the subjects. That too is a high status. Those who live outside can claim a higher status than those who live here. Everything depends on the effort you make. Effort cannot remain hidden. Those who become the wealthiest of all the subjects will not remain hidden. It isn’t that those who live outside receive a low status. Is it better to claim a royal status at the end or a high status among the subjects from the beginning? Those who live at home with their families don’t experience as many storms of Maya. Those who live here experience many storms. They have courage and are sitting in Shiv Baba’s refuge, but they don’t study because of the influence of bad company. Everything will be known at the end. Visions will be given of what status each one claims. Everyone studies, numberwise. Some run a centre by themselves. In some places, those who are studying go ahead of those who are running the centre. Everything depends on the effort you make. It isn’t that storms of Maya come; no. It is just that your behaviour isn’t good and that you do not follow shrimat. It is the same in a worldly family. They don’t follow the directions of their teacher or parents. You have become the children of the Father who has no father of His own. There (in the outside world), they have to go out a great deal. Some children get caught up in bad company and thus fail. Why should they say that there are storms of Maya? It is their own foolishness. They don’t follow directions and they thereby fail through such behaviour. Many children are very greedy. Some have anger and others have the habit of stealing. At the end, everything will be known: so-and-so left because of such behaviour. It will then be understood that he went and joined the shudra clan. He cannot then be called a Brahmin. After leaving the study, he went and became a shudra again. Those who have heard even a little knowledge will become one of the subjects. The tree is very big; others will emerge somewhere or other. Those who belonged to the deity religion and were converted to other religions will emerge. Many will come and everyone will wonder. Those of other religions can also claim their inheritance of liberation. Anyone can come here. If they want to claim a high status in their own kingdom, they will come here and take their aim. Baba gave you visions of how those souls come here and take their aim. It isn’t that they can only obtain their aim when they stay here. Anyone of any religion can take his aim. The aim they receive is: Remember the Father and the land of peace and you will claim a high status in your own religion. Neither will they receive liberation-in-life nor will they go there. Their hearts won’t be set on that. Only those who truly belong to this religion will have their hearts set on going there. At the end, souls have to know the Father. At many centres, there are many who don’t pay that much attention to the study. Therefore, it is understood that they cannot claim a high status. If they had faith, none of them would say that they don’t have time. However, because it is not in their fortune, they say that they don’t have time or that they have other things to do. If it is in their fortune, they begin to make effort day and night. While moving along, their character is spoilt because of bad company. That can also be called bad omens. The highest omens change to slightly lower omens. Perhaps, as they move along, the omens will be removed. For some, Baba says: They have the worst omens over them; they don’t even listen to God. They think that it is Brahma who is saying this. Some children don’t realise who it is that is giving them directions. Because of being body conscious, they think that it is the corporeal one who is giving directions. If they were soul conscious, they would understand that they have to do everything Shiv Baba says. The responsibility then lies with Shiv Baba. You have to follow Shiv Baba’s directions. By becoming body conscious, they forget Shiv Baba. In that case Shiv Baba cannot be responsible. His orders must be taken on board. However, they don’t understand who is speaking to them. No one else is giving you orders. Only the Father says: I give you shrimat. Firstly, remember Me and imbibe the knowledge that I give you and then inspire others to do the same. Just do this business. “OK, Baba, whatever Your orders are!” Those standing in front of the kings say, “Your wish is my command!” Kings used to give orders, whereas here, this order is from Shiv Baba. You should repeatedly say, “Whatever is Your order, Shiv Baba!” You will then remain happy because you will understand that Shiv Baba is giving you orders. When you have remembrance of Shiv Baba, the lock on your intellect opens. Shiv Baba says: Develop this practice and your boat will go across. However, the difficulty is that you repeatedly forget. Why should you say that Maya makes you forget? You forget and this is why everything you do is wrong. Many children give knowledge very well, but they have no yoga through which their sins could be absolved. There are many such very good children who don’t have any yoga at all. It is understood from their behaviour that they don’t stay in yoga, and so the sins remain for which they will have to suffer. There is no question of storms in this. Just understand that that is your mistake because you do not follow shrimat. You have come here to study Raja Yoga. You are not being taught yoga to become subjects (praja yoga). There are the mother and father: follow them and you too can be seated on the throne. For them, it is certain that they become Shri Lakshmi and Narayan. So follow the mother and father. Those of other religions don’t follow the mother and father. They only believe in the Father. Here, you have both. God is the Creator. The mother is an incognito secret. The mother and father continue to educate you. They explain to you: Don’t do this, do this! If a teacher punishes you, he does that at school. A student cannot say: You are being disrespectful to me! A father might even slap you in front of five or six children. The child couldn’t say: Why did you slap me in front of five or six children? No, children here are given teachings. If you cannot follow them, then live at home and make effort. If you do disservice while sitting here, then whatever little you have earned will also be finished. If you don’t want to study, then leave it! “I cannot continue with this!” Why should you defame Baba? There are many children; some will study and others will leave. Each one of you must remain intoxicated with your study. The Father says: Don’t take service from one another. Let there not be any arrogance. To take personal service from others is arrogance of the body. Baba has to explain to you. Otherwise, when the Tribunal sits, you will say: I wasn’t aware of the rules and regulations. This is why the Father explains everything to you. Later, visions will be given and there will then be punishment; there cannot be punishment without proof. Baba explains a lot to you, exactly as He did in the previous cycle. Each one’s fortune is seen. Some do service and make their lives like diamonds, whereas others cross out their fortune. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. 1. Follow the teachings you receive from the Father, Teacher and Satguru. Don’t blame Maya, but check your own weaknesses and remove them.
  2. Renounce arrogance and remain intoxicated in your study. Never take any personal service from others. Protect yourself very well from the influence of bad company.
Blessing: May you be free from worry (carefree) and always remain stable in a constant and unshakeable stage on the basis of your faith.
The sign of those with faithful intellects is that they are always free from worry. Such souls will never fluctuate in any situation; they will always remain unshakeable. Therefore, no matter what happens, do not think about it, do not go into “What?” or “Why?” Be trikaldarshi and remain free from worry because there is benefit in every step. Since you are holding the hand of the Benefactor Father, He will transform anything that is not beneficial into beneficial and so remain constantly free from worry.
Slogan: Those who are always loving naturally co-operate in every task.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 12 MARCH 2021 : AAJ KI MURLI

12-03-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – संगदोष से बचकर पढ़ाई पर पूरा-पूरा ध्यान दो तो कोई भी तूफान आ नहीं सकते, बाकी माया को दोषी मत बनाओ”
प्रश्नः- कौन सी एक बात सदा ध्यान पर रखो तो बेड़ा पार हो जायेगा?
उत्तर:- “बाबा आपका जो हुक्म”, ऐसे सदा बाप के हुक्म पर चलते रहो तो तुम्हारा बेड़ा पार हो जायेगा। हुक्म पर चलने वाले माया के वार से बच जाते हैं, बुद्धि का ताला खुल जाता है। अपार खुशी रहती है। कोई भी उल्टा कर्म नहीं होता है।
गीत:- तुम्हें पाके हमने…… 

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे सभी सेन्टर्स के बच्चों ने गीत सुना। सब जानते हैं कि बेहद के बाप से फिर से 5 हजार वर्ष पहले मुआफिक हम विश्व की बादशाही ले रहे हैं। कल्प-कल्प हम लेते आये हैं। बादशाही लेते हैं फिर गँवाते हैं। बच्चे जानते हैं अभी हमने बेहद के बाप की गोद ली है वा उनके बच्चे बने हैं। है भी बरोबर। घर बैठे हुए पुरूषार्थ करते हैं। बेहद के बाप से ऊंच पद पाने के लिए पढ़ाई चल रही है। तुम जानते हो ज्ञान सागर, पतित-पावन सर्व का सद्गति दाता शिवबाबा ही हमारा बाप भी है, टीचर भी है और सतगुरू भी है। उनसे हम वर्सा लेते हैं तो उसमें कितना पुरूषार्थ करना चाहिए – ऊंच पद पाने लिए। अज्ञान काल में भी स्कूल में पढ़ते हैं तो नम्बरवार मार्क्स से पास होते हैं, अपनी पढ़ाई अनुसार। वहाँ ऐसे तो कोई नहीं कहेंगे कि माया हमको विघ्न डालती है वा तूफान आते हैं। ठीक रीति पढ़ते नहीं हैं वा बुरे संग में जाकर फँस पड़ते हैं। खेलकूद में लग जाते हैं इसलिए पढ़ते नहीं हैं। नापास हो जाते हैं। बाकी इसको माया के तूफान नहीं कहेंगे। चलन ठीक नहीं रहती तो टीचर भी सर्टीफिकेट देते हैं कि इनकी बदचलन है। कुसंग में खराब हुआ है, इसमें माया रावण को दोषी बनाने की बात नहीं है। बड़े-बड़े अच्छे आदमियों के बच्चे कोई तो अच्छा चढ़ जाते हैं, कोई शराब आदि पीने लग जाते हैं। गन्दे तरफ चले जाते हैं तो बाप भी कहते हैं कि कपूत हो गया है। उस पढ़ाई में तो बहुत सबजेक्ट होती हैं। यह तो एक ही प्रकार की पढ़ाई है। वहाँ मनुष्य पढ़ाते हैं। यहाँ बच्चे जानते हैं हमको भगवान पढ़ाते हैं। हम अच्छी रीति पढ़ें तो विश्व का मालिक बन सकते हैं। बच्चे तो बहुत हैं फिर कोई पढ़ नहीं सकते, संगदोष में आकरके। इसको माया का तूफान क्यों कहें? संगदोष में कोई पढ़ता नहीं है तो इसमें माया वा टीचर वा बाप क्या करेंगे! नहीं पढ़ सकते हैं तो चले गये अपने घर। यह तो ड्रामा अनुसार पहले भट्ठी में पड़ना ही था। शरण आकर ली। कोई को पति ने मारा, तंग किया तो कोई को वैराग्य आ गया। घर में चल नहीं सकी फिर कोई यहाँ आकर भी चली गई, नहीं पढ़ सकी तो जाकर नौकरी आदि में लगी वा शादी की। यह तो एक बहाना है माया के तूफान से पढ़ नहीं सकते। यह नहीं समझते कि संगदोष के कारण यह हाल हुआ और हमारे में विकार जबरदस्त हैं। यह क्यों कहते हो कि माया का तूफान लगा तब गिर पड़े। यह तो अपने ऊपर मदार है।

बाप, टीचर, सतगुरू की जो शिक्षा मिलती है, उस पर चलना चाहिए। नहीं चलते हैं तो कोई खराब संग है वा काम का नशा वा देह-अभिमान का नशा है। सब सेन्टर्स वाले जानते हैं कि हम बेहद के बाप से विश्व की बादाशाही लेने के लिए पढ़ रहे है। निश्चय नहीं है तो बैठे ही क्यों हैं और भी बहुत आश्रम हैं। परन्तु वहाँ तो कुछ प्राप्ति नहीं। एम ऑबजेक्ट नहीं है। वह सब छोटे-छोटे मठ पंथ, टाल टालियाँ हैं। झाड़ वृद्धि को पाना ही है। यहाँ तो यह सारा कनेक्शन है। मीठे दैवी झाड़ का जो होगा वह निकल आयेगा। सबसे मीठे कौन होंगे? जो सतयुग के महाराजा महारानी बनते हैं। अभी तुम समझते हो जो पहले नम्बर में आते हैं, उन्होंने जरूर अच्छी पढ़ाई पढ़ी होगी। वही सूर्यवंशी घराने में गये। ऐसे भी हैं गृहस्थ व्यवहार में रहते अर्पणमय जीवन है। बहुत सर्विस कर रहे हैं। फर्क है ना। भल यहाँ भी रहते हैं परन्तु पढ़ा नहीं सकते तो और सर्विस में लग जाते हैं। पिछाड़ी में थोड़ा राजाई पद पा लेंगे। देखा जाता है बाहर गृहस्थ व्यवहार में रहने वाले बहुत तीखे हो जाते हैं, पढ़ने और पढ़ाने में। सभी तो गृहस्थी नहीं हैं। कन्या वा कुमार को गृहस्थी नहीं कहेंगे और जो वानप्रस्थी हैं वह 60 वर्ष के बाद फिर सब कुछ बच्चों को दे खुद कोई साधू आदि के संग में जाकर रहते हैं। आजकल तो तमोप्रधान हैं तो मरने तक भी धन्धे आदि को छोड़ते नहीं हैं। आगे 60 वर्ष में वानप्रस्थ अवस्था में चले जाते थे। बनारस में जाकर रहते थे। यह तो बच्चों ने समझा है वापिस कोई जा न सके। सद्गति को पा नहीं सकते।

बाप ही मुक्ति-जीवनमुक्ति दाता है। वह भी सब जीवनमुक्ति को नहीं पाते। कोई तो मुक्ति में चले जाते हैं। अब आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना हो रही है, फिर जो जितना पुरूषार्थ करे। उनमें भी कुमारियों को अच्छा चांस है। पारलौकिक बाप की वारिस बन जाती हैं। यहाँ तो सब बच्चे बाप से वर्सा लेने के हकदार हैं। वहाँ तो बच्चियों को वर्सा नहीं मिलता। बच्चों को लालच रहती है। भल ऐसे भी हैं जो समझते हैं कि ये भी वर्सा मिलेगा, वो भी लेवें, उनको क्यों छोड़ें। दोनों तरफ पढ़ते हैं। ऐसे किसम-किसम के हैं। अब यह तो समझते हैं अच्छा जो पढ़ते हैं वह ऊंच पद पा लेते हैं। प्रजा में बहुत साहूकार बन जाते हैं। यहाँ रहने वालों को अन्दर ही रहना पड़ता है। दास दासियाँ बन जाते हैं। फिर त्रेता के अन्त में 3-4-5 जन्म करके राजाई पद मिलेगा, उनसे तो वह साहूकार अच्छे हैं जो सतयुग से लेकर उन्हों की साहूकारी कायम रहती है। गृहस्थ व्यवहार में रहकर साहूकारी पद क्यों नहीं लेना चाहिए। कोशिश करते हैं हम राजाई पद पायें। परन्तु अगर खिसक पड़ते हैं तो प्रजा में अच्छा पद पाने का पुरूषार्थ करना चाहिए। वह भी तो ऊंच पद हुआ ना। यहाँ रहने वालों से बाहर रहने वाले बहुत ऊंचा पद पा सकते हैं। सारा मदार पुरूषार्थ पर है। पुरूषार्थ कभी छिप नहीं सकता। प्रजा में जो बड़े ते बड़ा साहूकार बनेगा, वह भी छिपा नहीं रहेगा। ऐसे नहीं कि बाहर वालों को कोई कम पद मिलता है। पिछाड़ी में राजाई पद पाना अच्छा वा प्रजा में शुरू से लेकर ऊंच पद पाना अच्छा? गृहस्थ व्यवहार में रहने वालों को इतने माया के तूफान नहीं आते हैं। यहाँ वालों को तूफान बहुत आते हैं। हिम्मत करते हैं हम शिवबाबा की शरण में बैठे हैं परन्तु संगदोष में पढ़ते नहीं हैं। पिछाड़ी में सब मालूम पड़ जाता है। साक्षात्कार होगा, कौन क्या पद पायेंगे। नम्बरवार पढ़ते हैं ना। कोई तो सेन्टर्स को आपेही चलाते हैं। कहाँ तो सेन्टर चलाने वाले से भी पढ़ने वाले तीखे हो जाते हैं। सारा पुरूषार्थ पर है। ऐसे नहीं कि माया के तूफान आते हैं। नहीं। अपनी चलन ठीक नहीं है। श्रीमत पर नहीं चलते हैं। लौकिक में भी ऐसा होता है। टीचर वा माँ बाप की मत पर नहीं चलते। तुम तो ऐसे बाप के बच्चे बने हो जिनको कोई बाप ही नहीं। वहाँ तो बाहर में बहुत जाना पड़ता है। कई बच्चे संगदोष में फँस पड़ते हैं तो नापास हो जाते हैं। ऐसे क्यों कहेंगे माया के तूफान आते हैं। यह अपनी मूर्खता है। डायरेक्शन पर नहीं चलते हैं। ऐसी चलन से नापास हो जाते हैं। बहुतों को लालच रहती है, कोई में क्रोध, कोई में चोरी की आदत, आखरीन में मालूम तो पड़ जाता है। फलाने-फलाने ऐसी-ऐसी चलन के कारण चले गये। समझा जाता है शूद्र कुल के बन गये। उनको फिर ब्राह्मण नहीं कहेंगे। फिर जाकर शुद्र बन गये। पढ़ाई छोड़ दी। थोड़ा भी ज्ञान सुना तो प्रजा में आ जायेंगे। बड़ा झाड़ है। कहाँ-कहाँ से निकल आयेंगे। देवी देवता धर्म के और धर्म में कनवर्ट हो गये होंगे वह निकल आयेंगे। बहुत आयेंगे तो सब वन्डर खायेंगे। और धर्म वाले भी मुक्ति का वर्सा तो ले सकते हैं ना। यहाँ कोई भी आ सकते हैं। अपने घराने में ऊंच पद पाना होगा तो वह भी आकर लक्ष्य लेकर जायेंगे। बाबा ने तुमको साक्षात्कार कराया था कि वह भी आकर लक्ष्य लेकर जाते हैं। ऐसे नहीं कि यहाँ रहकर ही लक्ष्य में रह सकेंगे। कोई भी धर्म वाला लक्ष्य ले सकता है। लक्ष्य मिलता है – बाप को याद करो। शान्तिधाम को याद करो तो अपने धर्म में ऊंच पद पा लेंगे। उनको जीवनमुक्ति तो मिलनी नहीं है, न वहाँ आयेंगे। दिल लगेगी नहीं। सच्ची दिल उन्हों की लगती है जो यहाँ के हैं। पिछाड़ी में आत्मायें अपने बाप को तो जान जायें। बहुत सेन्टर्स पर ऐसे भी हैं जिनका पढ़ाई पर अटेन्शन नहीं है। तो समझा जाता है ऊंच पद नहीं पा सकेंगे। निश्चय हो तो यह नहीं कह सकते कि फुर्सत नहीं हैं। परन्तु तकदीर में नहीं है तो कहते हैं फुर्सत नहीं है, यह काम है। तकदीर में होगा तो दिन रात पुरूषार्थ करने लग पड़ेंगे। चलते-चलते संग में भी खराब हो पड़ते हैं। उसको ग्रहचारी भी कह सकते हैं। ब्रहस्पति की दशा बदल कर मंगल की दशा हो पड़ती है। शायद आगे चलकर उतर जाये। कोई के लिए बाबा कहते हैं राहू की दशा बैठी है। भगवान का भी नहीं मानते हैं। समझते हैं यह ब्रह्मा कहते हैं। बच्चों को यह नहीं पता पड़ता है कि कौन है जो डायरेक्शन देते हैं। देह-अभिमान होने के कारण साकार के लिए समझ लेते हैं। देही-अभिमानी हो तो समझें कि शिवबाबा जो भी कहते हैं वह हमें करना है। रेसपान्सिबिल्टी शिवबाबा पर है। शिवबाबा की मत पर तो चलना चाहिए ना। देह-अभिमान में आने से शिवबाबा को भूल जाते हैं फिर शिवबाबा रेसपान्सिबुल नहीं रह सकता। उनका आर्डर तो सिर पर धारण करना चाहिए। परन्तु समझते नहीं कि कौन समझाते हैं। सो भी और तो कोई आर्डर नहीं करते सिर्फ बाप कहते हैं मैं तुमको श्रीमत देता हूँ। एक तो मुझे याद करो और जो ज्ञान मैं सुनाता हूँ वह धारण करो और कराओ। बस यही धन्धा करो। अच्छा बाबा जो हुक्म। राजाओं के आगे जो रहते हैं वह ऐसे कहते हैं – “जो हुक्म”। वह राजायें हुक्म करते थे। यह शिवबाबा का हुक्म है। घड़ी-घड़ी कहना चाहिए – “जो हुक्म शिवबाबा”। तो तुमको खुशी भी रहेगी। समझेंगे शिवबाबा हुक्म देते हैं। याद रहेगी शिवबाबा की तो बुद्धि का ताला खुल जायेगा। शिवबाबा कहते हैं यह प्रैक्टिस पड़ जानी चाहिए तो बेड़ा पार हो जाए। परन्तु यही डिफीकल्टी है। घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। ऐसे क्यों कहना चाहिए कि माया भुलाती है। हम भूल जाते हैं इसलिए उल्टे काम होते रहते हैं।

बहुत बच्चियाँ हैं, ज्ञान तो बहुत अच्छा देती हैं परन्तु योग नहीं, जिससे विकर्म विनाश हों। ऐसे बहुत अच्छे-अच्छे बच्चे हैं, योग बिल्कुल नहीं है। चलन से समझा जाता है – योग में नहीं रहते हैं फिर पाप रह जाते हैं जो भोगने पड़ते हैं। इसमें तूफान की तो बात ही नहीं। समझो यह मेरी भूल है, मैं श्रीमत पर चलता नहीं हूँ। यहाँ तुम आये हो राजयोग सीखने। प्रजा योग नहीं सिखाया जाता है। मात-पिता तो है ही। उनको फॉलो करो तो तुम भी गद्दी नशीन बनेंगे। इनका तो सरटेन है ना। यह श्री लक्ष्मी-नारायण बनते हैं तो फॉलो मदर फादर। और धर्म वाले मदर फादर को फालो नहीं करते हैं। वह तो फादर को ही मानते हैं। यहाँ तो दोनों हैं। गॉड तो है क्रियेटर। मदर का फिर गुप्त राज़ है। माँ बाप पढ़ाते रहते हैं। समझाते हैं ऐसे नहीं करो, यह करो। टीचर कोई भी सजा देंगे तो स्कूल के बीच में देंगे ना। ऐसे थोड़ेही बच्चा कहेगा कि मेरी इज्जत लेते हो। बाप 5-6 बच्चों के आगे थप्पड़ मारेगा। तो ऐसे बच्चा थोड़ेही कहेगा कि 5-6 के आगे क्यों लगाया। नहीं। यहाँ तो बच्चों को शिक्षा दी जाती है फिर भी नहीं चल सकते हैं तो अच्छा गृहस्थ व्यवहार में रहते फिर पुरूषार्थ करो। अगर यहाँ बैठे डिससर्विस की तो जो कुछ भी थोड़ा होगा वह भी खत्म हो जायेगा। नहीं पढ़ना है तो छोड़ दो। बस हम चल नहीं सकते। ग्लानी क्यों करनी चाहिए। ढेर बच्चे हैं। कोई पढ़ेंगे कोई छोड़ देंगे। हर एक को अपनी पढ़ाई में मस्त रहना चाहिए।

बाप कहते हैं एक दो से सेवा मत लो। कोई अहंकार नहीं आना चाहिए। दूसरे से सेवा लेना यह भी देह अहंकार है। बाबा को समझाना तो पड़े ना। नहीं तो जब ट्रिब्युनल बैठेगी तब कहेंगे – हमको पता थोड़ेही था कायदे कानून का इसलिए बाप समझा देते हैं फिर साक्षात्कार कराए सज़ा देंगे। बिगर प्ऱूफ सजा थोड़ेही मिल सकती है। अच्छा समझाते तो बहुत हैं कल्प पहले मुआफिक। हर एक की तकदीर देखी जाती है। कई सर्विस कर अपनी जीवन हीरे जैसी बनाते हैं, कई हैं जो तकदीर को लकीर लगा देते हैं। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप टीचर सतगुरू द्वारा जो शिक्षायें मिलती हैं उन पर चलना है। माया को दोष न देकर अपनी कमियों की जांच कर उन्हें निकालना है।

2) अहंकार का त्याग कर अपनी पढ़ाई में मस्त रहना है। कभी दूसरों से सेवा नहीं लेनी है। संगदोष से बहुत-बहुत सम्भाल करनी है।

वरदान:- निश्चय के आधार पर सदा एकरस अचल स्थिति में स्थित रहने वाले निश्चिंत भव
निश्चयबुद्धि की निशानी है ही सदा निश्चिंत। वह किसी भी बात में डगमग नहीं हो सकते, सदा अचल रहेंगे इसलिए कुछ भी हो सोचो नहीं, क्या क्यों में कभी नहीं जाओ, त्रिकालदर्शी बन निश्चिंत रहो क्योंकि हर कदम में कल्याण है। जब कल्याणकारी बाप का हाथ पकड़ा है तो वह अकल्याण को भी कल्याण में बदल देगा इसलिए सदा निश्चिंत रहो।
स्लोगन:- जो सदा स्नेही हैं वह हर कार्य में स्वत: सहयोगी बनते हैं।

TODAY MURLI 12 MARCH 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 12 March 2020

12/03/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have caught hold of the Father’s hand. By continuing to remember the Father while living in your home and family you will become satopradhan from tamopradhan.
Question: What enthusiasm should you children have? What method should you use to be seated on the throne?
Answer: Always have the enthusiasm that the Father, the Ocean of Knowledge, gives you platefuls of the jewels of knowledge every day. To the extent that you remain in yoga, accordingly, your intellects will continue to become pure. Only these eternal jewels of knowledge will go with you. In order to be seated on the throne, follow the Mother and the Father completely. Move forward according to His shrimat. Also make others equal to yourselves.

Om shanti. Where are you spiritual children sitting at this time? You would say: We are sitting in the university or school of the spiritual Father. It is in our intellects that we are sitting in front of the spiritual Father. That Father is explaining the significance of the beginning, the middle and the end of the world. He is also showing us how the rise and fall of Bharat takes place. Bharat which was pure is now impure. Bharat was crowned, so who then gains victory over it? Ravan. The kingdom was lost, so it was a fall, was it not? There is no king. If there were one, he would be impure. Only in this Bharat were there sun-dynasty emperors and empresses. There were sun-dynasty emperors and moon-dynasty kings. These aspects are now in your intellects. No one in the world knows these things. You children know that your spiritual Father is teaching you. You are holding your spiritual Father’s hand. Although you live in the home and family, it is in your intellects that you are now standing at the confluence age. We are going from the impure world to the pure world. The iron age is the impure age; the golden age is the pure age. Impure human beings go in front of the idols of pure human beings and salute them. After all, they too were human beings who belonged to Bharat, but they had divine virtues. You children know that you are now imbibing such divine virtues from the Father. We will not make this effort in the golden age. There, you receive the fruit. Here, you have to make effort to imbibe divine virtues. Constantly check yourself: To what extent am I remembering Baba and becoming satopradhan from tamopradhan? To the extent that you remember the Father, accordingly you will become satopradhan. The Father is eternally satopradhan. It is now an impure world, an impure Bharat. It was the pure Bharat in the pure world. Many different people come to you at the exhibitions. Some say: Just as food is necessary, so this vice too is food; without it we would die. However, there is nothing like that. Sannyasis become pure; do they really then die? For those who speak like that, it is understood that they must be great sinners like Ajamil. You should tell those who ask you this: Would you really die without it that you are comparing it to food? Those who are to come to heaven will be satopradhan. Then, later on, they will go through the stages of sato, rajo and tamo. Those souls who come later on have never seen the viceless world at all. So, those souls would say: We cannot live without it. It will immediately enter the intellects of those who belong to the sun dynasty that this aspect is true: truly, there was no name or trace of vice in heaven. Various human beings talk about a variety of things. You understand which ones are to become flowers. Some just remain thorns. The name of heaven is the garden of flowers. This is a forest of thorns. There are many different types of thorn. You know that we are now becoming flowers. Truly, Lakshmi and Narayan are roses constantly in bloom. They would be called the kings of flowers. It is the kingdom of divine flowers. Surely, they too must have made effort. They became that by studying. You know that we now belong to the family of God. Previously, we didn’t know God. The Father has come and created this family. A father first adopts a wife, and then he creates children with her. Baba too, has adopted this one and He has created you children through him. All of you are Brahma Kumars and Kumaris. This relationship becomes that of the pure household path. The path of sannyasis is that of isolation. No one there calls anyone “Mama” or “Baba”. Here, you say: “Mama and Baba.” All other satsangs belong to the path of isolation. This is the only Father whom you call “Mother and Father”. The Father sits here and explains: The pure household path existed in Bharat; it has now become impure. Once again, I am establishing that same pure household path. You know that your religion is one that gives a lot of happiness. So, why should you keep the company of those of other old religions? You live in such happiness in heaven; there are palaces of diamonds and precious jewels. Here, no matter how wealthy they may be in America, Russia, etc., there cannot be the happiness of heaven. No one can build palaces using bricks of gold. After all, palaces of gold only exist in the golden age. Here, where is the gold anyway? There, diamonds and precious jewels will be studded everywhere. Here, diamonds have become so expensive too. All of this is to turn to dust. Baba has explained: In the new world, all the new mines will be full again. All of them now continue to be emptied. They show that the ocean gave a gift of platefuls of diamonds and precious jewels. There, you will receive unlimited diamonds and precious jewels. They even consider the ocean to be a form of a deity. You understand that the Father is the Ocean of Knowledge. Let there constantly be the enthusiasm that, every day, the Father, the Ocean of Knowledge, gives us platefuls of jewels and jewellery of knowledge. That is an ocean of water. The Father gives you children the jewels of knowledge with which you fill your intellects. Your intellects will become pure to the extent that you stay in yoga. Only you take these eternal jewels of knowledge with you. The main aspects are remembrance of the Father and this knowledge. You children should have a great deal of enthusiasm inside you. The Father is incognito; you are also the incognito army. They say: Non-violent, unknown warriors. So-and-so is a very strong warrior. However, it is not possible that the name would not be known. The Government has the full name and address of each and every one. These are your names: the unknown warriors, the non-violent ones. The first violence is vice. This definitely causes sorrow from its beginning, through the middle to the end. This is why they say: O Purifier, come and purify us impure ones. In the pure world, there cannot be even one impure one. You children know that it is only now that you become the children of God in order to claim the inheritance from Him. However, Maya is no less too. One slap from Maya is so hard that she makes you fall completely into the gutter. The intellects of those who fall into vice are completely destroyed. The Father tells you so much: None of you should have love for any bodily being. You have to keep your love for the one Father. Do not become fond of any bodily being; do not love any bodily being.Have love for the bodiless Father, the One who is without an image. The Father continues to explain so much. In spite of that, they don’t understand. If it isn’t in their fortune they become trapped in each other’s body. Baba tells you so much that each of you is also the form of a point. The form of a soul and the form of the Supreme Soul are definitely the same. A soul cannot be any smaller or larger. Souls are eternal. Each one’s part is fixed in the drama. There are now so many human beings and then, there will then be 900,000 to a million. At the beginning of the golden age, the tree is so small. Total annihilation never happens anyway. You know that the souls of all human beings reside in the incorporeal world. They too have a tree. A seed is sown and the whole tree emerges from that. Initially, two leaves emerge. This, too, is an unlimited tree. It is so easy to explain the picture of the cycle. Churn this. It is now the iron age. Only one religion existed in the golden age and so there must have been few human beings. There are now so many human beings and so many religions. Where will that many humans, who were not here previously, go? All souls return to the supreme region. All of this knowledge is in your intellects. Just as the Father is the Ocean of Knowledge, so He also makes you the same. You study and attain that status. The Father is the Creator of heaven. Therefore, He surely gives the residents of Bharat the inheritance of heaven. He takes all the rest back home. The Father says: I have come to teach you children. To the extent that you make effort, accordingly you will receive that much status. You will become elevated to the extent that you follow shrimat. Everything depends on the efforts you make. If you wish to be seated on the heart throne of Mama and Baba, then follow the mother and father completely. In order to be seated on the throne, live according to their activities. Also make others equal to yourself. Baba shows you many different methods. Sit with someone and just explain the badge well. When it is the auspicious month (leap month for worship, tapasya and fasting), Baba says: Give the pictures away free. Baba gives a gift. When children receive money in their hands, they definitely think: Baba also has expenses, does He not? So, they quickly send it to Baba. It is the same family. When you create an exhibition of these pictures with “translights, many will come to see it. It is an act of charity. To change human beings from thorns into flowers, from sinful souls to charitable souls, is called the path of fast service. Many come when you hire a stall at an exhibition. There is less expense. You come here to buy the kingdom of heaven from the Father. So, they will also come to the exhibition to buy the kingdom of heaven. This is a shop. The Father says: You will receive a lot of happiness through this knowledge. Therefore, study very well, make effort and pass fully. Only the Father sits here and gives the introduction of Himself and the beginning, the middle and the end of creation. No one else can give it. Now, through the Father, you become knowers of the three aspects of time. The Father says: No one knows Me accurately as I am or what I am. You are also numberwise. If you knew accurately, you would never leave. This is a study. God sits here and teaches. He says: I am your obedient Servant. Both the Father and the Teacher are obedient Servants. My part is definitely like this in the drama and I will then take everyone back with Me. Follow shrimat and pass with honours. The study, after all, is very easy. The One who is teaching is the oldest of all. Shiv Baba says: I am not old. A soul never becomes old but his intellect does become stone. Mine, however, is a divine intellect. That is why I come to make your intellects divine. I come cycle after cycle. I teach you countless times. Nevertheless, you will forget. There is no need for this knowledge in the golden age. The Father explains so well. They then divorce such a Father. This is why it is said: If you want to see the greatest fools, then see them here. They even leave such a Father from whom they receive the inheritance of heaven. The Father says: If you follow My directions, you will become the emperors and empresses of the world in the land of immortality. This is the land of death. You children know that we were those same worthy-of-worship deities. What have we become now? Impure beggars! We will now once again become the same princes. Not everyone’s efforts can be the same. Some break down, some become traitors. There are many such traitors. You shouldn’t even talk to them. If someone asks about anything, other than aspects of knowledge, you can understand that that one is devilish. Good company takes you across whereas bad company drowns you. Keep the company of those who are clever in knowledge and who are seated in Baba’s heart. They will relate the sweetest aspects of knowledge to you. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found, serviceable, faithful and obedient children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Have love for the Father, the One without a body and without an image. Don’t let your intellect become trapped in the name and form of any bodily being. Be careful that you are not slapped by Maya.
  2. Don’t keep the company of those who relate anything other than aspects of knowledge. Make effort to pass fully. Do the service of changing thorns into flowers.
Blessing: May you become a master almighty authority who finds solutions to all reasons and remains free from fear.
At present, along with temporary happiness, there are also the two things of worry and fear. Where there is fear, there cannot be peace of mind. Where there is fear, there cannot be peace. So, along with happiness, there are also reasons for sorrow and peacelessness. However, you are master almighty authority children who are filled with the treasure of all powers, the ones who find solutions to all reasons, ones who are embodiments of solutions who find solutions to all problems and so you are free from worry and fear. Any problem that comes in front of you comes to play with you and not to make you afraid.
Slogan: Make your attitude (vruti) elevated and your home and family (pravruti) will automatically become elevated.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 12 March 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 March 2020

Murli Pdf for Print : – 

12-03-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“ मीठे बच्चे – तुमने बाप का हाथ पकड़ा है , तुम गृहस्थ व्यवहार में रहते भी बाप को याद करते – करते तमोप्रधान से सतोप्रधान बन जायेंगे ”
प्रश्नः- तुम बच्चों के अन्दर में कौन सा उल्लास रहना चाहिए? तख्तनशीन बनने की विधि क्या है?
उत्तर:- सदा उल्लास रहे कि ज्ञान सागर बाप हमें रोज़ ज्ञान रत्नों की थालियां भर-भर कर देते हैं। जितना योग में रहेंगे उतना बुद्धि कंचन होती जायेगी। यह अविनाशी ज्ञान रत्न ही साथ में जाते हैं। तख्तनशीन बनना है तो मात-पिता को पूरा-पूरा फालो करो। उनकी श्रीमत अनुसार चलो, औरों को भी आप समान बनाओ।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चे इस समय कहाँ बैठे हैं? कहेंगे रूहानी बाप की युनिवर्सिटी अथवा पाठशाला में बैठे हैं। बुद्धि में है कि हम रूहानी बाप के आगे बैठे हैं, वह बाप हमको सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ समझाते हैं अथवा भारत का राइज़ और फाल कैसे होता है, यह भी बताते हैं। भारत जो पावन था वह अब पतित है। भारत सिरताज था फिर किसने जीत पाई है? रावण ने। राजाई गँवा दी तो फाल हुआ ना। कोई राजा तो है नहीं। अगर होगा भी तो पतित ही होगा। इस ही भारत में सूर्यवंशी महाराजा-महारानी थे। सूर्यवंशी महाराजायें और चन्द्रवंशी राजायें थे। यह बातें अब तुम्हारी बुद्धि में हैं, दुनिया में यह बातें कोई नहीं जानते। तुम बच्चे जानते हो हमारा रूहानी बाप हमको पढ़ा रहे हैं। रूहानी बाप का हमने हाथ पकड़ा है। भल हम रहते गृहस्थ व्यवहार में हैं परन्तु बुद्धि में है कि अभी हम संगमयुग पर खड़े हैं। पतित दुनिया से हम पावन दुनिया में जाते हैं। कलियुग है पतित युग, सतयुग है पावन युग। पतित मनुष्य पावन मनुष्यों के आगे जाकर नमस्ते करते हैं। हैं तो वह भी भारत के मनुष्य। परन्तु वह दैवीगुण वाले हैं। अभी तुम बच्चे जानते हो हम भी बाप द्वारा ऐसे दैवीगुण धारण कर रहे हैं। सतयुग में यह पुरूषार्थ नहीं करेंगे। वहाँ तो है प्रालब्ध। यहाँ पुरूषार्थ कर दैवीगुण धारण करने हैं। सदैव अपनी जांच रखनी है – हम बाबा को कहाँ तक याद कर तमोप्रधान से सतोप्रधान बन रहे हैं? जितना बाप को याद करेंगे उतना सतोप्रधान बनेंगे। बाप तो सदैव सतोप्रधान है। अभी भी पतित दुनिया, पतित भारत है। पावन दुनिया में पावन भारत था। तुम्हारे पास प्रदर्शनी आदि में भिन्न-भिन्न प्रकार के मनुष्य आते हैं। कोई कहते हैं जैसे भोजन जरूरी है वैसे यह विकार भी भोजन है, इनके बिना मर जायेंगे। अब ऐसी बात तो है नहीं। सन्यासी पवित्र बनते हैं फिर मर जाते हैं क्या! ऐसे-ऐसे बोलने वाले के लिए समझा जाता है कोई बहुत अजामिल जैसे पापी होंगे, जो ऐसे-ऐसे कहते हैं। बोलना चाहिए क्या इस बिगर तुम मर जायेंगे जो भोजन से इनकी भेंट करते हो! स्वर्ग में आने वाले जो होंगे वह होंगे सतोप्रधान। फिर पीछे सतो, रजो, तमो में आते हैं ना। जो पीछे आते हैं उन आत्माओं ने निर्विकारी दुनिया तो देखी ही नहीं है। तो वह आत्मायें ऐसे-ऐसे कहेंगी कि इन बिगर हम रह नहीं सकते। सूर्यवंशी जो होंगे उनको तो फौरन बुद्धि में आयेगा – यह तो सत्य बात है। बरोबर स्वर्ग में विकार का नाम-निशान नहीं था। भिन्न-भिन्न प्रकार के मनुष्य, भिन्न-भिन्न प्रकार की बातें करते हैं। तुम समझते हो कौन-कौन फूल बनने वाले हैं? कोई तो कांटे ही रह जाते हैं। स्वर्ग का नाम है फूलों का बगीचा। यह है कांटों का जंगल। कांटे भी अनेक प्रकार के होते हैं ना। अभी तुम जानते हो हम फूल बन रहे हैं। बरोबर यह लक्ष्मी-नारायण सदा गुलाब के फूल हैं। इनको कहेंगे किंग ऑफ फ्लावर्स। दैवी फ्लावर्स का राज्य है ना। जरूर उन्होंने भी पुरूषार्थ किया होगा। पढ़ाई से बने हैं ना।

तुम जानते हो अभी हम ईश्वरीय फैमिली के बने हैं। पहले तो ईश्वर को जानते ही नहीं थे। बाप ने आकर के यह फैमिली बनाई है। बाप पहले स्त्री को एडाप्ट करते हैं फिर उन द्वारा बच्चों को रचते हैं। बाबा ने भी इनको एडाप्ट किया फिर इन द्वारा बच्चों को रचा है। यह सब ब्रह्माकुमार-कुमारियां हैं ना। यह नाता प्रवृत्ति मार्ग का हो जाता है। सन्यासियों का है निवृत्ति मार्ग। उसमें कोई मम्मा-बाबा नहीं कहते। यहाँ तुम मम्मा-बाबा कहते हो। और जो भी सतसंग हैं वह सब निवृत्ति मार्ग के हैं, यह एक ही बाप है जिसको मात-पिता कह पुकारते हैं। बाप बैठ समझाते हैं, भारत में पवित्र प्रवृत्ति मार्ग था, अब अपवित्र हो गया है। मैं फिर से वही प्रवृत्ति मार्ग स्थापन करता हूँ। तुम जानते हो हमारा धर्म बहुत सुख देने वाला है। फिर हम और पुराने धर्म वालों का संग क्यों करें! तुम स्वर्ग में कितने सुखी रहते हो। हीरे-जवाहरातों के महल होते हैं। यहाँ भल अमेरिका रशिया आदि में कितने साहूकार हैं परन्तु स्वर्ग जैसे सुख हो न सके। सोने की ईटों जैसे महल तो कोई बना न सके। सोने के महल होते ही हैं सतयुग में। यहाँ सोना है ही कहाँ। वहाँ तो हर जगह हीरे-जवाहरात लगे हुए होंगे। यहाँ तो हीरों का भी कितना दाम हो गया है। यह सब मिट्टी में मिल जायेंगे। बाबा ने समझाया है नई दुनिया में फिर सब नयी खानियां भरतू हो जायेंगी। अभी यह सब खाली होती रहेंगी। दिखाते हैं सागर ने हीरे-जवाहरातों की थालियां भेंट की। हीरे-जवाहरात तो वहाँ तुमको ढेर मिलेंगे। सागर को भी देवता रूप समझते हैं। तुम समझते हो बाप तो ज्ञान का सागर है। सदा उल्लास रहे कि ज्ञान सागर बाप हमें रोज़ ज्ञान रत्नों, जवाहरातों की थालियां भरकर देते हैं। बाकी वह तो पानी का सागर है। बाप तुम बच्चों को ज्ञान रत्न देते हैं, जो तुम बुद्धि में भरते हो। जितना योग में रहेंगे उतना बुद्धि कंचन होती जायेगी। यह अविनाशी ज्ञान रत्न ही तुम साथ ले जाते हो। बाप की याद और यह नॉलेज है मुख्य।

तुम बच्चों को अन्दर में बड़ा उल्लास रहना चाहिए। बाप भी गुप्त है, तुम भी गुप्त सेना हो। नान वायोलेन्स, अननोन वारियर्स कहते हैं ना, फलाना बहुत पहलवान वारियर्स है। परन्तु नाम-निशान का पता नहीं है। ऐसे तो हो नहीं सकता। गवर्मेन्ट के पास एक-एक का नाम निशान पूरा होता है। अननोन वारियर्स, नान-वायोलेन्स यह तुम्हारा नाम है। सबसे पहली-पहली हिंसा है यह विकार, जो ही आदि-मध्य-अन्त दु:ख देते हैं इसलिए तो कहते हैं – हे पतित-पावन, हम पतितों को आकर पावन बनाओ। पावन दुनिया में एक भी पतित नहीं हो सकता। यह तुम बच्चे जानते हो, अभी ही हम भगवान के बच्चे बने हैं, बाप से वर्सा लेने, परन्तु माया भी कम नहीं है। माया का एक ही थप्पड़ ऐसा लगता है जो एकदम गटर में गिरा देती है। विकार में जो गिरते हैं तो बुद्धि एकदम चट हो जाती है। बाप कितना समझाते हैं-आपस में देहधारी से कभी प्रीत नहीं रखो। तुमको प्रीत रखनी है एक बाप से। कोई भी देहधारी से प्यार नहीं रखना है, मुहब्बत नहीं रखनी है। मुहब्बत रखनी है उनसे जो देह रहित विचित्र बाप है। बाप कितना समझाते रहते हैं फिर भी समझते नहीं। तकदीर में नहीं है तो एक-दो की देह में फँस पड़ते हैं। बाबा कितना समझाते हैं – तुम भी रूप हो। आत्मा और परमात्मा का रूप तो एक ही है। आत्मा छोटी-बड़ी नहीं होती। आत्मा अविनाशी है। हर एक का ड्रामा में पार्ट नूँधा हुआ है। अभी कितने ढेर मनुष्य हैं, फिर 9-10 लाख होंगे। सतयुग आदि में कितना छोटा झाड़ होता है। प्रलय तो कभी होती नहीं। तुम जानते हो जो भी मनुष्य मात्र हैं उन सबकी आत्मायें मूलवतन में रहती हैं। उनका भी झाड़ है। बीज डाला जाता है, उनसे सारा झाड़ निकलता है ना। पहले-पहले दो पत्ते निकलते हैं। यह भी बेहद का झाड़ है, गोले पर समझाना कितना सहज है, विचार करो। अभी है कलियुग। सतयुग में एक ही धर्म था। तो कितने थोड़े मनुष्य होंगे। अभी कितने मनुष्य, कितने धर्म हैं। इतने सब जो पहले नहीं थे वह फिर कहाँ जायेंगे? सभी आत्मायें परमधाम में चली जाती हैं। तुम्हारी बुद्धि में सारा ज्ञान है। जैसे बाप ज्ञान का सागर है वैसे तुमको भी बनाते हैं। तुम पढ़कर यह पद पाते हो। बाप स्वर्ग का रचयिता है तो स्वर्ग का वर्सा भारतवासियों को ही देते हैं। बाकी सबको वापस घर ले जाते हैं। बाप कहते हैं मैं आया हूँ तुम बच्चों को पढ़ाने। जितना पुरूषार्थ करेंगे उतना पद पायेंगे। जितना श्रीमत पर चलेंगे उतना श्रेष्ठ बनेंगे। सारा मदार पुरूषार्थ पर है। मम्मा-बाबा के तख्तनशीन बनना है तो पूरा-पूरा फालो फादर मदर। तख्तनशीन बनने के लिए उनकी चलन अनुसार चलो। औरों को भी आपसमान बनाओ। बाबा अनेक प्रकार की युक्तियां बतलाते हैं। एक बैज पर ही तुम किसको भी अच्छी रीति बैठ समझाओ। पुरूषोत्तम मास होता है तो बाबा कह देते चित्र फ्री दे दो। बाबा सौगात देते हैं। पैसे हाथ में आ जायेंगे तो जरूर समझेंगे, बाबा का भी खर्चा होता है ना तो फिर जल्दी भेज देंगे। घर तो एक ही है ना। इन ट्रांसलाइट के चित्रों की प्रदर्शनी बनेंगी तो कितने देखने आयेंगे। पुण्य का काम हुआ ना। मनुष्य को कांटे से फूल, पाप आत्मा से पुण्य आत्मा बनाते हैं, इसको विहंग मार्ग कहा जाता है। प्रदर्शनी में स्टाल लेने से आते बहुत हैं। खर्चा कम होता है। तुम यहाँ आते हो बाप से स्वर्ग की राजाई खरीद करने। तो प्रदर्शनी में भी आयेंगे, स्वर्ग की राजाई खरीद करने। यह हट्टी है ना।

बाप कहते हैं इस ज्ञान से तुमको बहुत सुख मिलेगा, इसलिए अच्छी रीति पढ़कर, पुरूषार्थ करके फुल पास होना चाहिए। बाप ही बैठ अपना और रचना के आदि-मध्य-अन्त का परिचय देते हैं, और कोई दे न सके। अब बाप द्वारा तुम त्रिकालदर्शी बनते हो। बाप कहते हैं मैं जो हूँ, जैसा हूँ, मुझे यथार्थ रीति कोई नहीं जानते। तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं। अगर यथार्थ रीति जानते तो कभी छोड़ते नहीं। यह है पढ़ाई। भगवान बैठ पढ़ाते हैं। कहते हैं मैं तुम्हारा ओबीडियन्ट सर्वेन्ट हूँ। बाप और टीचर दोनों ओबीडियन्ट सर्वेन्ट होते हैं। ड्रामा में हमारा पार्ट ही ऐसा है फिर सबको साथ ले जाऊंगा। श्रीमत पर चल पास विद् ऑनर होना चाहिए। पढ़ाई तो बहुत सहज है। सबसे बूढ़ा तो यह पढ़ाने वाला है। शिवबाबा कहते हैं मैं बूढ़ा नहीं। आत्मा कभी बूढ़ी नहीं होती। बाकी पत्थर बुद्धि बनती है। मेरी तो है ही पारसबुद्धि, तब तो तुमको पारसबुद्धि बनाने आता हूँ। कल्प-कल्प आता हूँ। अनगिनत बार तुमको पढ़ाता हूँ फिर भी भूल जायेंगे। सतयुग में इस ज्ञान की दरकार ही नहीं रहती। कितना अच्छी रीति बाप समझाते हैं। ऐसे बाप को फिर फारकती दे देते हैं इसलिए कहा जाता है महान मूर्ख देखना हो तो यहाँ देखो। ऐसा बाप जिससे स्वर्ग का वर्सा मिलता है, उनको भी छोड़ देते हैं। बाप कहते हैं तुम मेरी मत पर चलेंगे तो अमरलोक में विश्व के महाराजा-महारानी बनेंगे। यह है मृत्युलोक। बच्चे जानते हैं हम सो पूज्य देवी-देवता थे। अभी हम क्या बन गये हैं? पतित भिखारी। अब फिर हम सो प्रिन्स बनने वाले हैं। सबका एकरस पुरूषार्थ तो हो न सके। कोई टूट पड़ते हैं, कोई ट्रेटर बन पड़ते हैं। ऐसे ट्रेटर्स भी बहुत हैं उनसे बात भी नहीं करनी चाहिए। सिवाए ज्ञान की बातों के और कुछ पूछें तो समझो शैतानी है। संग तारे कुसंग बोरे। जो ज्ञान में होशियार बाबा के दिल पर चढ़े हुए हैं, उनका संग करो। वह तुमको ज्ञान की मीठी-मीठी बातें सुनायेंगे। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे सर्विसएबुल, व़फादार, फरमानबरदार बच्चों को मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जो देह रहित विचित्र है, उस बाप से मुहब्बत रखनी है। किसी देहधारी के नाम-रूप में बुद्धि नहीं फँसानी है। माया का थप्पड़ न लगे, यह सम्भाल करनी है।

2) जो ज्ञान की बातों के सिवाए दूसरा कुछ भी सुनाए उसका संग नहीं करना है। फुल पास होने का पुरूषार्थ करना है। कांटों को फूल बनाने की सेवा करनी है।

वरदान:- कारण का निवारण कर चिंता और भय से मुक्त रहने वाले मा . सर्वशक्तिमान भव
वर्तमान समय अल्पकाल के सुख के साथ चिंता और भय यह दो चीजें तो हैं ही। जहाँ चिंता है वहाँ चैन नहीं हो सकता। जहाँ भय है वहाँ शान्ति नहीं हो सकती। तो सुख के साथ यह दुख अशान्ति के कारण भी हैं ही। लेकिन आप सर्व शक्तियों के खजाने से सम्पन्न मास्टर सर्वशक्तिमान बच्चे दुखों के कारण का निवारण करने वाले, हर समस्या का समाधान करने वाले समाधान स्वरूप हो इसलिए चिंता और भय से मुक्त हो। कोई भी समस्या आपके सामने खेल करने आती है न कि डराने।
स्लोगन:- अपनी वृत्ति को श्रेष्ठ बनाओ तो आपकी प्रवृत्ति स्वत:श्रेष्ठ हो जायेगी।

 

 

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 12 MARCH 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 March 2019

To Read Murli 11 March 2019 :- Click Here
12-03-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अन्तर्मुखी हो याद का अभ्यास करो, चेक करो कि आत्म-अभिमानी और परमात्म-अभिमानी कितना समय रहते हैं”
प्रश्नः- जो बच्चे एकान्त में जाकर आत्म-अभिमानी बनने की प्रैक्टिस करते हैं उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- उनके मुख से कभी उल्टा-सुल्टा बोल नहीं निकलेगा। 2-भाई-भाई का आपस में बहुत लव होगा। सदा क्षीरखण्ड होकर रहेंगे। 3-धारणा बहुत अच्छी होगी। उनसे कोई विकर्म नहीं होगा। 4-उनकी दृष्टि बहुत मीठी होगी। कभी देह-अभिमान नहीं आयेगा। 5-कोई को भी दु:ख नहीं देंगे।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों प्रति, सिर्फ रूह कहेंगे तो फिर जीव निकल जाता है इसलिए रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप समझाते हैं – अपने को आत्मा समझना है। हम आत्माओं को बाप से यह नॉलेज मिलती है। बच्चों को देही-अभिमानी हो रहना है। बाप आये ही हैं बच्चों को ले जाने लिए। भल सतयुग में तुम आत्म-अभिमानी बनते हो परन्तु परमात्म-अभिमानी नहीं। यहाँ तुम आत्म-अभिमानी भी बनते हो तो परमात्म-अभिमानी भी अर्थात् हम बाप की सन्तान हैं। यहाँ और वहाँ में बहुत फ़र्क है। यहाँ है पढ़ाई, वहाँ पढ़ने की बात नहीं। यहाँ हर एक अपने को आत्मा समझता है और बाबा हमको पढ़ाते हैं, इस निश्चय में रहकर सुनेंगे तो धारणा बहुत अच्छी होगी। आत्म-अभिमानी बनते जायेंगे। इस अवस्था में टिकने की मंजिल बहुत बड़ी है। सुनने में बहुत सहज लगता है। बच्चों को यही अनुभव सुनाना है कि हम कैसे अपने को आत्मा और दूसरे को भी आत्मा समझ बात करते हैं। बाप कहते हैं मैं भल इस शरीर में हूँ परन्तु मेरी यह असुल की प्रैक्टिस है। मैं बच्चों को आत्मा ही समझता हूँ। आत्मा को पढ़ाता हूँ। भक्ति मार्ग में भी आत्मा पार्ट बजाती आई है। पार्ट बजाते-बजाते पतित बनी है। अब फिर आत्मा को पवित्र बनना है। सो जब तक बाप को परमात्मा समझकर याद नहीं करेंगे तो पवित्र कैसे बनेंगे। इस पर बच्चों को बहुत अन्तर्मुखी हो याद का अभ्यास करना है। नॉलेज सहज है। बाकी यह निश्चय पक्का रहे कि हम आत्मा पढ़ते हैं, बाबा हमको पढ़ाते हैं, तो धारणा भी होगी और कोई विकर्म नहीं होगा। ऐसे नहीं, इस समय हमसे कोई विकर्म नहीं होता है। विकर्माजीत तो अन्त में बनेंगे। भाई-भाई की दृष्टि बहुत मीठी रहती है। इसमें कभी देह-अभिमान नहीं आयेगा। बच्चे समझते हैं बाप की नॉलेज बड़ी डीप है। अगर ऊंच ते ऊंच बनना है तो यह प्रैक्टिस अच्छी रीति करनी पड़े। इस पर गौर करना पड़े। अन्तर्मुखी होने के लिए एकान्त भी चाहिए। यहाँ जैसा एकान्त घर में धन्धेधोरी में तो मिल न सके। यहाँ तुम यह प्रैक्टिस बहुत अच्छी कर सकते हो। आत्मा को ही देखना पड़े। अपने को भी आत्मा समझना है यह प्रैक्टिस यहाँ करने से आदत पड़ जायेगी। फिर अपना चार्ट भी रखना चाहिए – कहाँ तक आत्म-अभिमानी बने हैं? आत्मा को ही हम सुनाते हैं, उनसे ही बातचीत करते हैं। यह प्रैक्टिस बहुत अच्छी चाहिए। बच्चे समझते होंगे यह बात तो ठीक है। देह-अभिमान निकल जाए और हम आत्म-अभिमानी बन जाएं, धारणा करते और कराते जाएं। कोशिश कर अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना – यह चार्ट बड़ा डीप है। बड़े-बड़े महारथी भी समझते होंगे – बाबा जो दिन-प्रतिदिन सब्जेक्ट देते हैं विचार सागर मंथन करने के लिए, यह तो बहुत बड़ी प्वाइंट्स हैं। फिर कभी भी मुख से कोई उल्टा-सुल्टा अक्षर नहीं निकलेगा। भाइयों-भाइयों का आपस में बहुत लॅव हो जायेगा। हम सब ईश्वर की सन्तान हैं। बाप की महिमा को तो जानते ही हो। कृष्ण की महिमा अलग, उनको कहते हैं सर्वगुण सम्पन्न…. परन्तु कृष्ण के पास गुण कहाँ से आये? भल उनकी महिमा अलग है, परन्तु सर्वगुण सम्पन्न बना तो ज्ञान सागर बाप से ही है ना। तो अपनी जांच बहुत रखनी है, क़दम-क़दम पर पूरा पोतामेल निकालना है। व्यापारी लोग सारे दिन की मुरादी रात को सम्भालते हैं। तुम्हारा भी व्यापार है ना। रात्रि को जांच करनी है कि हमने सबको भाई-भाई समझकर बात की? कोई को भी दु:ख तो नहीं दिया? क्योंकि तुम जानते हो हम सब भाई क्षीर सागर की तरफ जा रहे हैं। यह है विषय सागर। तुम अभी न रावण राज्य में हो, न राम राज्य में हो। तुम बीच में हो तो अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है। देखना है कहाँ तक हमारी वह भाई-भाई के दृष्टि की अवस्था रही? हम सब आत्मायें आपस में भाई-भाई हैं, हम इस शरीर से पार्ट बजाते हैं। आत्मा अविनाशी है, शरीर विनाशी है, हमने 84 जन्मों का पार्ट बजाया है। अब बाप आये हैं, कहते हैं मामेकम् याद करो, अपने को आत्मा समझो। आत्मा समझने से भाई-भाई हो जाते हैं। यह बाप ही समझाते हैं। बाप के सिवाए और कोई का पार्ट ही नहीं। प्रेरणा आदि की बात नहीं। जैसे टीचर बैठ समझाते हैं, वैसे बाप बच्चों को समझाते हैं। यह विचार करने की बात है, इसमें समय भी देना पड़ता है। बाप ने धन्धा आदि करने के लिए तो कह दिया है लेकिन याद की यात्रा भी जरूरी है। उसके लिए भी टाइम निकालना चाहिए। सर्विस भी सबकी भिन्न-भिन्न है। कोई बहुत टाइम निकाल सकते हैं। मैगजीन में भी युक्ति से लिखना है कि यहाँ ऐसे बाप को याद करना होता है। एक-दो को भाई-भाई समझना होता है।

बाप आकर सभी आत्माओं को पढ़ाते हैं। आत्मा में दैवीगुणों के संस्कार अभी भरने हैं। मनुष्य पूछते हैं भारत का प्राचीन योग क्या है? तुम समझा सकते हो परन्तु तुम अभी बहुत थोड़े हो, तुम्हारा नाम निकला नहीं है। ईश्वर योग सिखलाते हैं। जरूर उनके बच्चे भी होंगे। वह भी जानते होंगे यह किसको भी पता नहीं है। निराकार बाप कैसे आकर पढ़ाते हैं, वह खुद ही समझाते हैं मैं कल्प-कल्प संगमयुग पर आकर खुद बताता हूँ कि मैं ऐसे आता हूँ। किसके तन में आता हूँ, इसमें मूँझने की बात नहीं। यह बना-बनाया ड्रामा है। एक में ही आता हूँ। प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा स्थापना। वह मुरब्बी बच्चा पहले-पहले बनते हैं। आदि सनातन देवी-देवता धर्म स्थापन करते हैं। फिर वही पहले नम्बर में आते हैं। इस चित्र पर समझानी बहुत अच्छी है। ब्रह्मा सो विष्णु, विष्णु सो ब्रह्मा कैसे बनते हैं – यह और कोई समझा न सके। समझाने की युक्ति चाहिए। अभी तुम जानते हो बाबा कैसे देवता धर्म की स्थापना कर रहे हैं, कैसे चक्र फिरता है, इन बातों को और कोई जान न सके। तो बाप कहते हैं ऐसे-ऐसे युक्ति से लिखो। यथार्थ योग कौन सिखला सकते हैं – यह मालूम पड़ जाए तो तुम्हारे पास ढेर आ जायें। इतने बड़े आश्रम जो हैं, सब हिलने लग पडेंगे। यह पिछाड़ी को होना है, फिर वन्डर खायेंगे कि इतनी सब संस्थायें भक्ति मार्ग की हैं, ज्ञान मार्ग की एक भी नहीं, तब ही तुम्हारी विजय होगी। यह भी तुम जानते हो हर 5 हज़ार वर्ष के बाद बाप आते हैं। बाप द्वारा तुम सीख रहे हो, औरों को सिखलाते हो। कैसे किसको लिखत में समझाना है – यह सब कल्प-कल्प युक्तियां निकलती हैं, जो बहुतों को पता पड़ जाता है। सिवाए बाप के एक धर्म की स्थापना कोई कर नहीं सकता। तुम जानते हो – उस तरफ है रावण, इस तरफ है राम। रावण पर तुम जीत पाते हो। वह सब हैं रावण सम्प्रदाय। तुम ईश्वरीय सम्प्रदाय बहुत थोड़े हो। भक्ति का कितना शो है। जहाँ-जहाँ पानी है, वहाँ मेला लगता है। कितना खर्चा करते हैं। कितने डूबते मरते हैं। यहाँ तो ऐसी बात नहीं। फिर भी बाप कहते हैं आश्चर्यवत् मेरे को पहचानन्ती, सुनन्ती, सुनावन्ती, पवित्र रहन्ती फिर भी अहो माया तेरे द्वारा हार खावन्ती। कल्प-कल्प ऐसे होता है। हार खावन्ती भी होते हैं। माया के साथ युद्ध है। माया का भी प्रभाव है। भक्ति को तो हिलना ही है। आधा कल्प तुम प्रालब्ध भोगते हो फिर रावण राज्य से भक्ति शुरू होती है। उनकी निशानियां भी कायम हैं, विकार में जाते हैं फिर देवता तो रहे नहीं। कैसे विकारी बनते हैं, यह दुनिया में कोई जानते नहीं। शास्त्रों में लिख दिया हैं वाम मार्ग में गये। कब गये – यह नहीं समझते हैं। यह सब बातें अच्छी रीति समझने और समझाने की हैं। यह भी तब समझें जब निश्चयबुद्धि हों। उनकी कशिश होगी, कहेंगे ऐसे बाप से हमको मिलाओ। परन्तु पहले देखो घर जाने के बाद वह नशा रहता है? निश्चय बुद्धि रहते हैं? भल याद सतावे, चिट्ठी लिखते रहें, आप हमारे सच्चे बाबा हो, आप से ऊंचा वर्सा मिलता है, आप से मिलने बिगर हम रह नहीं सकते। सगाई के बाद मिलना होता है। सगाई के बाद तड़फते हैं। तुम जानते हो हमारा बेहद का बाप टीचर साजन आदि सब कुछ है। और सबसे दु:ख मिला, उनकी एवज में बाप सुख देते हैं। वहाँ भी सब सुख देते हैं। इस समय तुम सुख के सम्बन्ध में बंध रहे हो।

यह पुरूषोत्तम बनने का पुरूषोत्तम युग है। मूल बात है – अपने को आत्मा समझना है, बाप को प्यार से याद करना है। याद से खुशी का पारा चढ़ेगा। हमने सबसे जास्ती भक्ति की है। धक्के बहुत खाये। अब बाप आया है वापिस ले जाने तो जरूर पवित्र बनना है। दैवीगुण धारण करने हैं। पोतामेल रखना है – सारे दिन में कितने को बाप का परिचय दिया? बाप का परिचय देने बिगर सुख नहीं आता, तड़फन लग जाती है। यज्ञ में बहुत विघ्न भी पड़ते हैं, मारें खाते हैं। और कोई सतसंग नहीं जहाँ पवित्रता की बात हो। यहाँ तुम पवित्र बनते हो तो असुर लोग विघ्न डालते हैं। पावन बनकर घर जाना है। संस्कार आत्मा ले जाती है। कहते हैं युद्ध के मैदान में मरेंगे तो स्वर्ग में जायेंगे इसलिए खुशी से लड़ाई में जाते हैं। तुम्हारे पास कमान्डर, मेजर, सिपाही आदि कहाँ-कहाँ से आते हैं। स्वर्ग में कैसे जायेंगे? लड़ाई के मैदान में मित्र-सम्बन्धी याद आते हैं। अब बाप समझाते हैं सबको वापिस जाना है। अपने को आत्मा समझो, भाई-भाई समझो। बाप को याद करो। जो जितना पुरूषार्थ करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। वो लोग कहते हैं हम भाई-भाई हैं। परन्तु अर्थ नहीं जानते। बाप को ही नहीं जानते।

लोग समझते हैं हम निष्काम सेवा करते हैं। हमको फल की इच्छा नहीं। परन्तु फल तो जरूर मिलना है। निष्काम सेवा तो एक बाप ही करते हैं। बच्चे जानते हैं बाप की कितनी ग्लानि की है। देवताओं की भी ग्लानि की है। अब देवतायें किसी की हिंसा तो कर नहीं सकते। यहाँ तो तुम डबल अहिंसक बनते हो। न काम कटारी चलाना, न क्रोध करना। क्रोध भी बड़ा विकार है। कहते हैं बच्चों पर बहुत क्रोध किया। बाप समझाते हैं थप्पड़ आदि कभी नहीं मारना। वह भी भाई है, उनमें भी आत्मा है। आत्मा छोटी-बड़ी नहीं होती है। यह बच्चा नहीं परन्तु तुम्हारा छोटा भाई है। आत्मा समझना है। छोटे भाई को मारना नहीं चाहिए इसलिए कृष्ण के लिए दिखाते हैं ओखरी से बांधा। वास्तव में ऐसी बातें हैं नहीं। यह भिन्न-भिन्न शिक्षायें हैं। बाकी कृष्ण को क्या परवाह पड़ी है माखन की। वह महिमा भी करते हैं उल्टी चोरी की। तुम महिमा करेंगे सुल्टी, तुम कहेंगे वह तो सर्वगुण सम्पन्न, 16 कला सम्पूर्ण है। परन्तु यह ग्लानि की भी ड्रामा में नूँध है। अभी सब तमोप्रधान बन पड़े हैं। बाप आकर सतोप्रधान बनाते हैं। पढ़ाने वाला है बेहद का बाप। उनकी मत पर चलना पड़े। डिफीकल्ट से डिफीकल्ट यह सबजेक्ट है। पद भी तुम कितना ऊंच पाते हो। अगर सहज हो तो सब इस इम्तहान में लग जायें। इसमें बड़ी मेहनत है। देह-अभिमान आने से विकर्म बन जायेंगे इसलिए छुई-मुई का दृष्टान्त है। बाप को याद करने से तुम खड़े हो जायेंगे। भूलने से कुछ न कुछ भूल हो जायेगी। पद भी कम हो पड़ता है। शिक्षा तो सबको दी है, जिसकी बाद में गीता बनाई है। गरूड़ पुराण में रोचक बातें लिखी हैं, जो मनुष्यों को डर लगे। रावण राज्य में पाप तो होते ही हैं क्योंकि है ही कांटों का जंगल। बाप कहते हैं दृष्टि को भी बदलना है। बहुत समय से हिरे हुए हैं इसलिए शरीर की तरफ प्यार चला जाता है। विनाशी चीज़ से प्यार रखने से फ़ायदा ही क्या? अविनाशी से प्यार रखने में अविनाशी बन जाता है। बच्चों को यही डायरेक्शन है – उठते-बैठते चलते-फिरते बाप को याद करो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) शरीर विनाशी है, उससे प्यार निकाल अविनाशी आत्मा से प्यार रखना है। अविनाशी बाप को याद करना है। आत्मा भाई-भाई है, हम भाई से बात करते हैं – यह अभ्यास करना है।

2) विचार सागर मंथन कर अपनी ऐसी अवस्था बनानी है जो मुख से कभी कोई उल्टा-सुल्टा बोल न निकले। क़दम-क़दम पर अपना पोतामेल चेक करना है।

वरदान:- ईश्वरीय संग में रह उल्टे संग के वार से बचने वाले सदा के सतसंगी भव
कैसा भी खराब संग हो लेकिन आपका श्रेष्ठ संग उसके आगे कई गुणा शक्तिशाली है। ईश्वरीय संग के आगे वह संग कुछ भी नहीं है। सब कमजोर है। लेकिन जब खुद कमजोर बनते हो तब उल्टे संग का वार होता है। जो सदा एक बाप के संग में रहते हैं अर्थात् सदा के सतसंगी हैं वह और किसी संग के रंग में प्रभावित नहीं हो सकते। व्यर्थ बातें, व्यर्थ संग अर्थात् कुसंग उन्हें आकर्षित कर नहीं सकता।
स्लोगन:- बुराई को भी अच्छाई में परिवर्तन करने वाले ही प्रसन्नचित्त रह सकते हैं।

TODAY MURLI 12 MARCH 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 12 March 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 11 March 2019 :- Click Here

12/03/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become introverted and practise staying in remembrance. Check for how long you remain soul conscious and God conscious.
Question: What are the signs of the children who sit in solitude and practise being soul conscious?
Answer: 1) No wrong words emerge through their lips. 2) They have brotherly love for each other and remain like milk and sugar. 3) They have very good dharna. They never perform any sinful acts. 4) Their vision is very sweet; they never become body conscious. 5) They never cause sorrow for anyone.

Om shanti. The spiritual Father speaks to you spiritual children. If He were to say “only to the spirits” it would not be to human beings. This is why the spiritual Father says: Spiritual children, consider yourselves to be souls. We souls are receiving this knowledge from the Father. You children have to remain soul conscious. The Father has come to take you children back home. Although you are soul conscious in the golden age, you are not God conscious. Here, you become soul conscious and God conscious, that is, you are the children of the Father. There is a great deal of difference between there and here. Here, there is this study whereas there is no question of this study there. Here, if you continue to listen with the faith that each one of you is a soul and that the Father is teaching you, you would be able to imbibe knowledge well and you would continue to become soul conscious. Although it sounds very easy, the destination of stabilising oneself in this stage is very high. You children should relate your own experience of how you consider yourself to be a soul while speaking to others and seeing them as souls. The Father says: Although I am sitting in this body, this is my natural practice. I consider the children to be souls. I teach souls. It is also souls that play parts on the path of devotion. They become impure while playing their parts. Souls have to become pure again. Until you consider the Father to be the Supreme Soul and remember Him, how can you become pure? For this, you children have to become introverted and practise having remembrance. Knowledge is very easy but you have to have this firm faith: “I, the soul, am studying and Baba is teaching us.” You will then be able to imbibe knowledge and not commit any sin. It is not that you no longer commit sin at this time. Only at the end will you become conquerors of sin. The vision of brotherhood is very sweet. There is no body consciousness in that. You children understand that the Father’s knowledge is very deep. If you want to become the highest on high, you have to practise this very well and think about this very well. You need solitude in order to become introverted. You cannot have solitude at home or while doing business like the solitude you have here. Here, you can practise this very well. You must only see the soul. You also have to consider yourself to be a soul. By your practising this here, the habit will be instilled. You also then have to keep your own chart: To what extent have I become soul conscious? We speak to souls. We converse with them. You need to practise this very well. You children understand that this aspect is correct. To remove body consciousness and become soul conscious, to imbibe this and inspire others to imbibe it, to consider yourself to be a soul and remember the Father is a very deep chart. Even the big maharathis understand that the subject Baba gives us daily to churn has very deep points. Then, no wrong words will emerge from your lips. There will be a lot of love among brothers. All of us are the children of God. You know the Father’s praise. Krishna’s praise is separate. He is called “all virtuous and completely viceless”, but where did he receive those virtues from? His praise is different but he was made completely virtuous by the Father, the Ocean of Knowledge, was he not? You should check yourselves very carefully. You have to keep an accurate account at every step. Businessmen write up their accounts for the whole day at night. You also have a business. At night, you should check yourselves as to whether you spoke to others while considering them to be your brothers and whether you caused sorrow for anyone, because you understand that all you brothers are going to the ocean of milk. This is the ocean of poison. You are now neither in the kingdom of Ravan nor in the kingdom of Rama. You are in between and so you have to consider yourselves to be souls and remember the Father. You should check to what extent you are able to maintain the stage of the vision of brotherhood. All of us souls are brothers and we are playing our parts through these bodies. Souls are imperishable and bodies are perishable. We have now played our parts of 84 births. The Father has now come. He says: Remember Me alone. Consider yourselves to be souls. You become brothers by considering yourselves to be souls. The Father explains this. No one except the Father has the part of explaining these things. There is no question of inspirations. Just as a teacher sits and explains, in the same way the Father explains to the children. These are things to think about. You also have to give time to this. The Father has given you permission to carry on with your business etc., but it is also essential to stay on the pilgrimage of remembrance. You should make time for this. Everyone’s service is also different. Some can find a lot of time. You should also write with tact in the magazines how you can remember the Father here. You have to consider one another to be brothers. The Father comes and teaches all souls. It is now that you each have to fill the soul with the sanskars of divine virtues. People ask you what the ancient yoga of Bharat is. You can explain to them but, as yet, there are very few of you and your name hasn’t become that well known. God teaches you yoga. He must surely have children. They must realize that no one knows how incorporeal God, the Father, comes and teaches. He Himself speaks: I come at the confluence of every cycle and tell you how I come and whose body I enter. There is no question of becoming confused about this. This is a predestined drama. I only come in the one. Establishment takes place through the Father of Humanity. He becomes the first, especially beloved child. I establish the original eternal deity religion through him. Then he becomes the first number again. The explanation in this picture is very good. No one else can explain how Brahma becomes Vishnu or how Vishnu becomes Brahma. You need clever methods to explain. You know how Baba establishes the original eternal deity religion and how the cycle turns. No one else can know these things. Therefore, the Father says: Write using such clever methods: Who can teach you the correct yoga? When people come to realize this, many will come to you. All of those big ashrams will then begin to shake. This will happen at the end, and they will be wonderstruck as to how there are so many institutions on the path of devotion and not a single one on the path of knowledge. Only then will there be victory for you. You also know that the Father comes every 5000 years. You are studying with the Father and you also teach others. How can you explain to someone in writing? All of these methods are invented every cycle so that many can come to know. No one except the one Father can establish the one religion. You know that there is Ravan on the one side and Rama on the other side. You are gaining victory over Ravan. All others belong to the community of Ravan. There are very few of you who belong to the community of God. There is so much show on the path of devotion. Wherever there is water, a gathering takes place. They spend so much money. Many drown and die. That does not happen here. Nevertheless, the Father says: It is a great wonder how some recognise Me, listen to Me, explain to others and observe purity, and then, o Maya, they are defeated by you! This happens every cycle. There are those who become defeated by Maya. There is a war with Maya. There is also the influence of Maya. The path of devotion has to shake. You experience the reward for half the cycle and then devotion begins in the kingdom of Ravan. The signs of this remain all the time. When they indulge in vice, they can no longer be deities. No one in the world knows how they became vicious. It is written in the scriptures that the deities went onto the path of sin but they don’t know when they went. You have to understand all of these aspects clearly and explain them to others. It is only when your intellects have faith that you can understand these things. They will feel a pull and say: We want to meet such a Father. However, you should first see whether they still have that intoxication when they go back home and whether their intellects still have faith. They should have a craving for remembrance. They would write a letter to say: You are our true Baba. We receive the highest inheritance from You. We cannot stay without meeting You. A meeting takes place after an engagement. There is eagerness to meet one another after the engagement. You understand that our unlimited Father is our Teacher and our Bridegroom and that He is our everything. You receive sorrow from everyone else whereas, in contrast to that, the Father gives you so much happiness. There, too, everyone gives each other happiness. At that time you are bound in a relationship of happiness. This is the most auspicious age in which you become the most elevated human beings. The main thing is to consider yourself to be a soul and remember the Father with a lot of love. It is through this remembrance that your mercury of happiness will rise. We are the ones who have done the most devotion and have stumbled a great deal. The Father has now come to take us back home and so you definitely have to become pure and also imbibe divine virtues. You have to keep a chart of how many you gave the Father’s introduction to throughout the day. You cannot be happy without giving the Father’s introduction. There is great eagerness to give this. Many obstacles are created in this sacrificial fire. Many are beaten. There are no other spiritual gatherings where there is the question of observing purity. Here, you become pure and devilish people create obstacles. You have to become pure and return home. It is the soul that carries the sanskars. It is said: If you die on the battlefield, you go to heaven. This is why they go in great happiness to fight. Many commandersmajors and soldiers come to you from many different places. How can they go to heaven? While on the battlefield, they remember their friends and relatives. The Father now explains: Everyone has to return home. Consider yourself to be a brother soul and remember the Father. The more effort you make, the higher the status you will claim. They say, “We are all brothers,” but they don’t understand the meaning of that. They don’t even know the Father. People believe that they do altruistic service and that they don’t want any reward, but they definitely do receive the fruit of it. Only the one Father does altruistic service. You children understand that the Father is defamed a great deal and that deities are also defamed. Now, deities cannot commit violence. Here, you become doubly non-violent: neither do you use the sword of lust nor do you become angry. Anger too is a big vice. Some say: We become angry with our children. The Father explains: You must never slap them. They are your brothers. There is a soul in that body too. A soul never becomes smaller or larger. They are not your children but your younger brothers. You have to consider them to be souls. You must not beat your younger brother. This is why Krishna has been shown tied to a pole. In fact, those things never really happened. They are just different moral teachings. Why would Krishna want to steal butter? They wrongly praise him for stealing butter. When you praise him, you praise him correctly: He is full of all virtues, 16 celestial degrees full. However, this defamation is fixed in the drama. Everyone has now become tamopradhan. The Father comes and makes you satopradhan. It is the unlimited Father who is teaching you. You have to follow His directions. This is the most difficult subject of all. You also claim a very high status. If it were easy, everyone would engage themselves in this examination. It takes great effort. You commit sin by being body conscious. This is why the example of the “Touch-Me-Not” plant is given. By remembering the Father, you become alert. By forgetting Him you make one mistake or another and your status is reduced. Everyone was given those teachings; they wrote the Gita of these teachings later. Many fearful stories have been written in the Garuda Purana in order to make people afraid. There is sin in the kingdom of Ravan because it is the forest of thorns. The Father says: Transform your vision. You have been accustomed to that vision for a long time and this is why your love is drawn towards bodily beings. What benefit is there in having love for perishable things? By having love for the imperishable One, your attainment becomes imperishable. You children have been given this direction: While walking, talking and moving around, remember the Father. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remove your love from perishable bodies and have love for eternal souls. Remember the imperishable Father. Practise: Souls are brothers and I am conversing with my brother soul.
  2. Churn the ocean of knowledge and create such a stage that no wrong words emerge through their lips. Check your account at every step.
Blessing: May you always be in the company of the Truth (satsang – gathering of truth) for, by staying in God’s company, you protect yourself from being attacked by any wrong company.
No matter how bad the company you are in may be, your elevated company is many times more powerful compared to them. In front of God’s company, that company is nothing. All are weak, but when you yourself become weak, you are then attacked by wrong company. Those who constantly stay in the company of the one Father, that is, those who are always in the company of the Truth cannot be influenced by the colour of anyone else’s company. Wasteful situations and wasteful company, that is, wrong company cannot attract them.
Slogan: Those who change something bad into something good can remain happy hearted.

*** Om Shanti ***

Font Resize