12 december ki murli

TODAY MURLI 12 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 12 December 2020

12/12/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to make your fortune elevated, connect your intellect in yoga with the one Father whenever you talk to anyone or look at anyone.
Question: What directions have the children who are instruments to establish the new world received from the Father?
Answer: Children, you don’t have any connection with this old world. Don’t attach your heart to this old world. Check that you do not act in any way that is against shrimat and that you are becoming instruments for spiritual service.
Song: No one is unique like the Innocent Lord!

Om shanti. There is now no need to listen to songs. Generally, devotees sing songs and listen to them. You are studying an education. These songs have been especially made for you children. You children know that the Father is making your fortune elevated. We now just have to remember the Father and imbibe divine virtues. Check your chart and see whether you are making a profit or a loss. Do I have any weaknesses? If there is any weakness which would cause a loss in your fortune, you should remove that weakness. At this time, each one of you has to make your fortune elevated. You explain that only if you remember no one except the one Father can you become Lakshmi or Narayan. While talking to anyone or looking at anyone, connect your intellect in yoga with the One. We souls must only remember the Father. We have received the Father’s orders: Do not attach your heart to anyone except Me, and imbibe divine virtues. The Father explains: Your 84 births have now been completed. You now have to go and claim a number one status in the kingdom. It shouldn’t be that you fall from the status of a ruler and become part of the subjects and that, even among the subjects, you are among the lowest subjects. No; continue to check yourselves. No one except the Father can give this explanation. By remembering the Father and the Teacher, there will be some fear in case you do anything for which there would be punishment. Even on the path of devotion, they understand that by committing sin they accumulate punishment for themselves. It is only at this time that you receive directions from the Senior Baba and these are called shrimat. You children know that you become elevated by following shrimat. You have to check yourselves as to whether you are doing anything against shrimat. You must not do anything that you don’t like. You now understand the difference between good and bad; previously you didn’t understand this. You are now learning to act in such a way that your actions will become neutral for many births. At this time, the five vices are in everyone. You now have to make effort very well and become karmateet and also imbibe divine virtues. Times are becoming more and more delicate and the world is getting worse. Day by day, things will only get worse. It is as though you have no connection with this world. Your connection is with the new world which is now being established. You know that we are becoming instruments to establish the new world. So, you have your aim and objective in front of you: I have to become like them! Let there not be any devilish traits in you. When you keep yourself engaged in doing spiritual service, there can be a lot of progress. When you open exhibitions and museums, you believe that many people will come and that you will be able to give them the Father’s introduction, so that they then begin to remember the Father. Throughout the day, just have these thoughts. Open a centre and do more service. You have all the jewels. The Father inspires you to imbibe divine virtues and also gives you treasures. While sitting here, it is in your intellects that you know the beginning, the middle and the end of the world. You also remain pure. Do not perform any bad actions through your thoughts, words or deeds. You have to check yourselves very carefully in this respect. The Father has come to purify the impure. He continues to show you methods for this. You have to continue to think about these methods and entertain yourselves with them. Open a centre and invite many people to come and then sit and explain to them with a lot of love: This old world is to be destroyed. First of all, establishment of the new world is absolutely essential. Establishment takes place at the confluence age. People don’t even know that it is now the confluence age. You have to explain that it is now the confluence of the establishment of the new world and the destruction of the old world. The new world is being established by your following shrimat. No one except the Father can give directions for establishing the new world. Only the Father comes and enables you children to inaugurate the new world. He will not do this alone; He takes the help of all His children. Those people wouldn’t take any help to inaugurate anything; they would just go and cut a ribbon with scissors. Here, it is not like that. Here, you decorations of the Brahmin clan become helpers. All human beings have completely lost their way. It is the task of the Father alone to purify the impure world. Only the Father establishes the new world for which He is giving you spiritual knowledge. You know that the Father has the method for establishing the new world. People call out to Him on the path of devotion: O Purifier, come! Although people continue to worship Shiva, they do not know who the Purifier is. When they are unhappy, they remember Him, and say: O God! O Rama! The incorporeal One is also called Rama. The Incorporeal is called God the Highest. However, people are very confused. It is as though they are lost in a fog! The Father has come and removed your confusion. This is an unlimited aspect. They are trapped in a huge forest. The Father has made you feel which forest you were in. You now know that this world is old and that it is now at its end. People don’t know the way at all! They continue to call out to the Father. You no longer call out. You children now know the beginning, the middle and the end of the drama and that too is numberwise. Those who know this remain very happy. They are always busy showing others the path. The Father continues to say: Open big centres. If you have big pictures, people will be able to understand easily. Maps (posters) are definitely needed for the children; you have to show that this too is a school. These maps (posters) here are wonderful. The maps at school show limited things. These are unlimited aspects. This too is a university in which the Father explains to us the secrets of the beginning, the middle and the end of the world and makes us worthy. This is the Godly University for changing from humans into deities. It is written: “World Spiritual University”. This is a spiritual university. Simply by your writing “Vishwa Vidyalaya (Godly University)”, people are not able to understand. You have to write the word “University”. There is no other Godly university like this. Baba has seen some cards in which some words were missed out. Baba has told you so many times definitely to write the word “Prajapita” but, in spite of that, children forget to do it. The text has to be written accurately so that people can know that this is a big Godly College. Very good serviceable children who are engaged in service have the desire in their hearts to go and uplift particular centres; those centres have become slack and so they want to go and awaken them, because Maya is such that she makes them go to sleep again and again. They even forget that they are spinners of the discus of self-realisation. Maya creates a lot of opposition. You are on a battlefield. You have to remain very cautious that Maya doesn’t turn your heads around and take you in the wrong direction. Many are affected by the storms of Maya. Young and old, all are on the battlefield. Storms of Maya cannot make strong ones fluctuate. That stage is yet to come. The Father explains: Times are very bad and conditions are very bad. All the kingdoms will be abolished. They will dethrone everyone and it will then be the rule of the people over the people throughout the whole world. You are establishing your new kingdom and so all trace of the kingdoms here will disappear. The rule of the people over the people then continues. Only when it is the rule of the people will they fight and quarrel among themselves. In fact, there is no self-sovereignty or kingdom of Rama. This is why there is fighting throughout the whole world. Nowadays, there is a lot of upheaval everywhere. You know that you are establishing your own kingdom. You are showing everyone the path. The Father says: Constantly remember Me alone. Stay in remembrance of the Father and tell others to become soul conscious. Renounce body consciousness. It isn’t that every one of you has become soul conscious. No, you still have to become this. You have to make effort and also inspire others to do the same. You try to stay in remembrance and then you forget. This is the effort you have to make. The main thing is to remember the Father. He explains so much to the children. You receive very good knowledge. The main thing is to remain pure. The Father has come to purify you and so you mustn’t become impure. Don’t forget that it is only by having remembrance that you will become satopradhan. It is in this that Maya causes obstacles and makes you forget. Day and night, have the concern to remember the Father and become satopradhan. Let your remembrance become so firm that, at the end, you remember no one but the one Father. In exhibitions as well, first of all explain that that One is the Father of all, God, the Highest on High. That One is the Father of all, the Purifier and the Bestower of Salvation for All. He alone is the Creator of Heaven. You children now know that the Father only comes at the confluence age. Only the Father teaches you Raj Yoga. No one except the One can be the Purifier. First of all, you have to give the Father’s introduction. Now, if you were to sit and explain each picture to each one individually, how would you be able to explain to such a big crowd? However, the first and foremost thing to explain is the Father’s picture. You have to explain that there is devotion of many, whereas knowledge is of just the One. The Father shows you children so many methods. Only the one Father is the Purifier and only He also shows you the path. No one knows when the Gita was spoken. The copper age cannot be called the confluence age. The Father doesn’t come in every age. Human beings are totally confused. Throughout the day, you only think about how to explain to others. The Father has to give you directions. You can hear a full murli on a tape. Some say that they do listen to a tape, and wonder why they shouldn’t listen to Baba directly, and so they come here personally. You children have to do a lot of service and show others the path. When people come to the exhibitions, they say that this is very good, but when they go outside into Maya’s environment, everything flies away. They don’t churn knowledge. You should then follow up with them. When they go out, Maya pulls them; they get involved in mundane business. This is why Madhuban is remembered. You have now received understanding. You can go and explain anywhere who the God of the Gita is. Previously, you also used to go and bow down as they now do. You have now completely changed. You have stopped doing devotion. You are now changing from humans into deities. You have all the knowledge in your intellects. What would others know about who the Prajapita Brahma Kumars and Kumaris are? You explain that, in fact, they too are Prajapita Brahma Kumars and Kumaris. It is at this time that establishment takes place through Brahma. There definitely also has to be the Brahmin clan. The Brahmin clan exists at the confluence age. In earlier days, the topknot of brahmins was very well known. They were recognised as Hindus by their topknot or their sashes. Now even those signs have disappeared. You now know that you are Brahmins. After you become Brahmins, you can become deities. It was the Brahmins who established the new world. Through the power of yoga you are becoming satopradhan. You have to check yourselves. Do not have any devilish traits. Don’t become like salt water. This is a sacrificial fire. Everyone is looked after where there is a sacrificial fire. There are trustees to look after sacrificial fires. Shiv Baba is the Master of the sacrificial fire. This Brahma is a trustee. The sacrificial fire has to be looked after. Whatever you children want, you can receive it from the yagya. If you accept and wear something from others, you will continue to remember them. The line of your intellect has to be very clear about this. You now have to return home. Very little time remains. Therefore, stay very firmly on the pilgrimage of remembrance. This is the only effort you have to make. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost, now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to make progress, remain engaged in spiritual service. Imbibe all the jewels of knowledge you have received and inspire others to do the same.
  2. Check that you don’t have any devilish traits. Am I living as a trustee? Do I ever become like salt water? Is the line of my intellect clear?
Blessing: May you be a knowledgeable soul and make your speaking, thinking and doing, all three, equal.
The time for going into the stage of retirement is now coming close. Therefore, finish the weaknesses, the consciousness of “mine” and the wasteful games and let your speaking, thinking and doing become equal and you will then become an embodiment of knowledge. Every action, sanskar, virtue and duty of those who are knowledgeable souls, embodiments of knowledge would be powerful, like the Fathers. Such souls cannot play crazy wasteful games. They keep themselves constantly busy playing Godly games. They are always celebrating a meeting with the Father and making others equal to the Father.
Slogan: Enthusiasm for doing service merges all trivial illnesses and so always keep remain busy doing service.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 12 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

12-12-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – अपनी तकदीर ऊंच बनानी है तो कोई से भी बात करते, देखते बुद्धि का योग एक बाप से लगाओ”
प्रश्नः- नई दुनिया की स्थापना के निमित्त बनने वाले बच्चों को बाप का कौन सा डायरेक्शन मिला हुआ है?
उत्तर:- बच्चे, तुम्हारा इस पुरानी दुनिया से कोई कनेक्शन नहीं है। अपनी दिल इस पुरानी दुनिया से मत लगाओ। जांच करो हम श्रीमत के बरखिलाफ कर्म तो नहीं करते हैं? रूहानी सर्विस के निमित्त बनते हैं?
गीत:- भोलेनाथ से निराला…

ओम् शान्ति। अब गीत सुनने की कोई जरूरत नहीं रहती। गीत अक्सर करके भक्त ही गाते हैं और सुनते हैं। तुम तो पढ़ाई पढ़ते हो। यह गीत भी बच्चों के लिए ही खास निकले हुए हैं। बच्चे जानते हैं-बाप हमारी तकदीर ऊंच बना रहे हैं। अब हमको बाप को ही याद करना है और दैवीगुण धारण करने हैं। अपना पोतामेल देखना है। जमा होता है या ना (घाटा) होता रहता है। हमारे में कोई खामी तो नहीं है? अगर खामी है, जिससे हमारी तकदीर में घाटा पड़ जायेगा तो उसको निकाल देना चाहिए। इस समय हर एक को अपनी तकदीर ऊंच बनानी है। तुम समझाते हो हम यह लक्ष्मी-नारायण बन सकते हैं। अगर सिवाए एक बाप के और कोई को याद नहीं करेंगे तो। कोई से बात करते, देखते हुए बुद्धि का योग वहाँ एक के साथ लगा रहे। हम आत्माओं को बाप को ही याद करना है। बाप का फरमान मिला हुआ है। सिवाए मेरे और कोई से दिल नहीं लगाओ और दैवीगुण धारण करो। बाप समझाते हैं, तुम्हारे अभी 84 जन्म पूरे हुए हैं। अब फिर तुम जाकर पहला नम्बर लो राजाई में। ऐसा न हो राजाई से गिरकर प्रजा में चले जाओ, प्रजा में भी नीचे चले जाओ। नहीं, अपनी जांच करते रहो। यह समझानी बाप बिगर तो और कोई दे न सके। बाप को, टीचर को याद करने से डर रहेगा। ऐसा न हो हमको कोई सजा मिल जाए। भक्ति में भी समझते हैं पाप कर्म करने से हम सजा के भागी बन जायेंगे। बड़े बाबा के डायरेक्शन तो अभी ही मिलते हैं, जिसको श्रीमत कहते हैं। बच्चे जानते हैं कि श्रीमत से हम श्रेष्ठ बनते हैं। अपनी जांच करनी है। कहाँ-कहाँ हम श्रीमत के बरखिलाफ तो कुछ करते नहीं हैं? जो बात अच्छी न लगे वह करनी नहीं चाहिए। अच्छे बुरे को तो अब समझते हो, आगे नहीं समझते थे। अभी तुम ऐसे कर्म सीखते हो जो फिर जन्म-जन्मान्तर कर्म अकर्म बन जाते हैं। इस समय तो सबमें 5 भूत प्रवेश हैं। अब अच्छी रीति पुरुषार्थ कर कर्मातीत बनना है। दैवीगुण भी धारण करने हैं। समय नाज़ुक होता जाता है, दुनिया बिगड़ती जाती है। दिन प्रतिदिन बिगड़ती ही रहेगी। इस दुनिया से तुम्हारा जैसेकि कनेक्शन ही नहीं। तुम्हारा कनेक्शन है नई दुनिया से, जो स्थापन हो रही है। तुम जानते हो हम निमित्त बनते हैं – नई दुनिया स्थापन करने। तो जो एम आब्जेक्ट सामने हैं, उन जैसा बनना है। कोई भी आसुरी गुण अन्दर न हो। रूहानी सर्विस में लगे रहने से उन्नति बहुत होती है। प्रदर्शनी, म्यूजियम आदि बनाते हैं। समझते हैं बहुत लोग आयेंगे, उन्हों को बाप का परिचय देंगे, फिर वह भी बाप को याद करने लग पड़ेंगे। सारा दिन यही ख्यालात चलते रहें। सेन्टर खोल सर्विस को बढायें, यह रत्न सब तुम्हारे पास हैं। बाप दैवीगुण भी धारण कराते हैं और खजाना देते हैं। तुम यहाँ बैठे हो बुद्धि में है सृष्टि के आदि मध्य अन्त को जानते हैं। पवित्र भी रहते हैं। मन्सा-वाचा-कर्मणा कोई बुरा कर्म न हो, उसकी पूरी जांच करनी होती है। बाप आये ही हैं पतितों को पावन बनाने। उसके लिए युक्तियाँ भी बतलाते रहते हैं। उसमें ही रमण करते रहना है। सेन्टर खोल बहुतों को निमंत्रण देना है। प्रेम से बैठ समझाना है। यह पुरानी दुनिया खत्म होनी है। पहले तो नई दुनिया की स्थापना बहुत जरूरी है। स्थापना होती है संगम पर। यह भी मनुष्यों को पता नही है कि अब संगमयुग है। यह भी समझाना है नई दुनिया की स्थापना, पुरानी दुनिया का विनाश उसका अब संगम है। नई दुनिया की स्थापना श्रीमत पर हो रही है। सिवाए बाप के और कोई नई दुनिया के स्थापना की मत देंगे नहीं। बाप ही आकर तुम बच्चों से नई दुनिया का उद्घाटन कराते हैं। अकेले तो नहीं करेंगे। सब बच्चों की मदद लेते हैं। वो लोग उद्घाटन करने लिए मदद नहीं लेंगे। आकर कैंची से रिबन काटेंगे। यहाँ तो वह बात नहीं। इसमें तुम ब्राहमण कुल भूषण मददगार बनते हो। सब मनुष्य मात्र रास्ता बिल्कुल मूंझे हुए हैं। पतित दुनिया को पावन बनाना यह बाप का ही काम है। बाप ही नई दुनिया की स्थापना करते हैं, जिसके लिए रूहानी नॉलेज देते हैं। तुम जानते हो बाप के पास नई दुनिया के स्थापना करने की युक्ति है। भक्ति मार्ग में उनको पुकारते हैं ना – हे पतित-पावन आओ। भल शिव की पूजा भी करते रहते हैं। परन्तु यह जानते नहीं हैं कि पतित-पावन कौन है। दु:ख में याद तो करते हैं हे भगवान, हे राम। राम भी निराकार को ही कहते हैं। निराकार को ही ऊंच भगवान कहते हैं। परन्तु मनुष्य बहुत मूंझे हुए हैं। बाप ने आकर निकाला है। जैसे फागी में मनुष्य मूंझ जाते हैं ना। यह तो है बेहद की बात। बहुत बड़े जंगल में आकर पड़े हैं। तुमको भी बाप ने फील कराया है हम किस जंगल में पड़े थे। यह भी अब पता पड़ा है-यह पुरानी दुनिया है। इनका भी अन्त है। मनुष्य तो बिल्कुल रास्ता जानते ही नहीं। बाप को पुकारते रहते हैं। तुम अभी पुकारते नहीं हो। अभी तुम बच्चे ड्रामा के आदि-मध्य-अन्त को जानते हो। सो भी नम्बरवार। जो जानते हैं वह बहुत खुशी में रहते हैं। औरों को भी रास्ता बताने में तत्पर रहते हैं। बाप तो कहते रहते हैं बड़े-बडे सेन्टर खोलो। चित्र बड़े-बड़े होंगे तो मनुष्य सहज समझ सकेंगे। बच्चों के लिए मैप्स(चित्र) जरूर चाहिए। बताना चाहिए – यह भी स्कूल है। यहाँ के यह वन्डरफुल मैप्स हैं, उन स्कूलों के नक्शे में तो होती हैं हद की बातें। यह हैं बेहद की बातें। यह भी पाठशाला है, जिसमें बाप हमको सृष्टि के आदि मध्य अन्त का राज़ बताए और लायक बनाते हैं। मनुष्य से देवता बनने की यह ईश्वरीय पाठशाला है। लिखा हुआ ही है ईश्वरीय विश्व विद्यालय। यह है रूहानी पाठशाला। सिर्फ ईश्वरीय विश्व विद्यालय से भी मनुष्य समझ नहीं सकते हैं। युनिवर्सिटी भी लिखना चाहिए। ऐसा ईश्वरीय विश्व विद्यालय कोई है नहीं। बाबा ने कार्डस देखे थे। कुछ अक्षर भूले हुए थे। बाबा ने कितना बार कहा है प्रजापिता अक्षर जरूर डालो फिर भी बच्चे भूल जाते हैं। लिखत पूरी होनी चाहिए। जो मनुष्यों को मालूम पड़े कि यह ईश्वरीय बड़ा कॉलेज है। बच्चे जो सर्विस पर उपस्थित हैं, जो अच्छे सर्विसएबुल हैं, उन्हों को भी दिल में रहता है हम फलाने सेन्टर को जाकर उठायें, ठण्डा पड़ गया है, उनको जगायें क्योंकि माया ऐसी है जो घड़ी-घड़ी सुला देती है। मैं स्वदर्शन चक्रधारी हूँ, यह भी भूल जाते हैं। माया बहुत आपोजीशन करती है। तुम युद्ध के मैदान में हो। माया माथा मूड कर उल्टे तरफ न ले जाए, उसकी बड़ी सम्भाल करनी है। माया के तूफान तो बहुत सभी को लगते हैं। छोटे अथवा बड़े सब युद्ध के मैदान में हो। पहलवान को माया के तूफान हिला न सकें। वह अवस्था भी आने वाली है।

बाप समझाते हैं – समय बड़ा खराब है, हालतें बिगड़ी हुई हैं। राजाई तो सब खत्म हो जानी है। सबको उतार देंगे। फिर प्रजा का प्रजा पर राज्य सारी दुनिया में हो जायेगा। तुम अपनी नई राजाई स्थापन करते हो तो यहाँ राजाई का नाम भी खत्म हो जायेगा। पंचायती राज्य होता जाता है। जब प्रजा का राज्य हो तब तो आपस में लड़े झगड़ें। स्वराज्य अथवा रामराज्य तो वास्तव में है नहीं इसलिए सारी दुनिया में झगड़े ही होते रहते हैं। आजकल तो हंगामा सब जगह है। तुम जानते हो – हम अपनी राजाई स्थापन कर रहे हैं। तुम सबको रास्ता बताते हो। बाप कहते हैं – मामेकम् याद करो। बाप की याद में रह औरों को भी यह समझाना है – देही-अभिमानी बनो। देह अभिमान छोड़ो। ऐसे नहीं कि तुम्हारे में सब देही-अभिमानी बने हैं। नहीं, बनने का है। तुम पुरुषार्थ करते हो औरों को भी कराते हो। याद करने की कोशिश करते हैं फिर भूल जाते हैं। पुरुषार्थ यही करना है। मूल बात है बाप को याद करना। बच्चों को कितना समझाते हैं। नॉलेज बहुत अच्छी मिलती है। मूल बात है पवित्र रहना। बाप पावन बनाने आये हैं तो फिर पतित नहीं बनना है, याद से ही तुम सतोप्रधान बन जायेंगे। यह भूलना नहीं है। माया इसमें ही विघ्न डाल भुला देती है। रात-दिन यह तात रहे हम बाप को याद कर सतोप्रधान बनें। याद ऐसी पक्की होनी चाहिए जो पिछाड़ी में सिवाए एक बाप के और कोई भी याद न पड़े। प्रदर्शनी में भी पहले-पहले यह समझाना चाहिए यह है सबका बाप ऊंच ते ऊंच भगवान। सबका बाप पतित-पावन सद्गति दाता यह है। यही स्वर्ग का रचयिता है।

अभी तुम बच्चे जानते हो बाप आते ही हैं संगमयुग पर। बाप ही राजयोग सिखलाते हैं। पतित-पावन एक के सिवाए दूसरा कोई हो नही सकता। पहले-पहले तो बाप का परिचय देना पड़ता है। अब एक-एक को ऐसे एक चित्र पर बैठ समझाओ तो इतनी भीड़ को कैसे समझा सकेंगे। परन्तु पहले-पहले बाप के चित्र पर समझाना मुख्य है। समझाना पड़ता है – भक्ति है अथाह, ज्ञान तो है एक। बाप कितनी युक्तियाँ बच्चों को बतलाते रहते हैं। पतित-पावन एक बाप है। रास्ता भी बताते हैं। गीता कब सुनाई? यह भी किसको पता नहीं। द्वापर युग को कोई संगमयुग नहीं कहा जाता। युगे-युगे तो बाप नहीं आते हैं। मनुष्य तो बिल्कुल मूंझ पड़े हैं। सारा दिन यही ख्यालात चलते हैं, कैसे-कैसे समझाया जाए। बाप को डायरेक्शन देने पड़ते हैं। टेप पर भी मुरली पूरी सुन सकते हैं। कोई-कोई कहते हैं टेप द्वारा हम सुन रहे हैं, क्यों न डायरेक्ट जाकर सुनें, इसलिए सम्मुख आते हैं। बच्चों को बहुत सर्विस करनी है। रास्ता बताना है। प्रदर्शनी में आते हैं। अच्छा-अच्छा भी कहते हैं फिर बाहर जाने से माया के वायुमण्डल में सब उड़ जाता है। सिमरण नहीं करते हैं। उनकी फिर पीठ करनी चाहिए। बाहर जाने से माया खींच लेती है। गोरखधन्धों में लग जाते हैं इसलिए मधुबन का गायन है। तुमको तो अभी समझ मिली है। तुम वहाँ भी जाकर समझायेंगे। गीता का भगवान कौन है? आगे तो तुम भी ऐसे ही जाकर माथा झुकाते थे। अभी तो तुम बिल्कुल बदल गये हो। भक्ति छोड़ दी है। तुम अभी मनुष्य से देवता बन रहे हो। बुद्धि में सारी नॉलेज है। और क्या जाने प्रजापिता ब्रह्माकुमार, कुमारियाँ कौन हैं। तुम समझाते हो, वास्तव में तुम भी प्रजापिता ब्रह्माकुमार कुमारी हो। इस समय ही ब्रह्मा द्वारा स्थापना हो रही है। ब्राह्मण कुल भी जरूर चाहिए ना। संगम पर ही ब्राह्मण कुल होता है। आगे ब्राह्मणों की चोटी मशहूर थी। चोटी से या जनेऊ से पहचानते थे कि यह हिन्दू है। अब तो वह निशानियाँ भी चली गई हैं। अभी तुम जानते हो हम ब्राह्मण हैं। ब्राह्मण बनने के बाद फिर देवता बन सकते हैं। ब्राह्मणों ने ही नई दुनिया स्थापन की है। योगबल से सतोप्रधान बन रहे हैं। अपनी जाँच रखनी है। कोई भी आसुरी गुण न हो। लूनपानी नहीं बनना है। यह तो यज्ञ है ना। यज्ञ से सबकी सम्भाल होती रहती है। यज्ञ में सम्भालने वाले ट्रस्टी भी रहते हैं। यज्ञ का मालिक तो है शिवबाबा। यह ब्रह्मा भी ट्रस्टी है। यज्ञ की सम्भाल करनी पड़ती है। तुम बच्चों को जो चाहिए यज्ञ से लेना है। और कोई से लेकर पहनेंगे तो वह याद आता रहेगा। इसमें बुद्धि की लाइन बड़ी क्लीयर चाहिए। अब तो वापिस जाना है। समय बहुत थोड़ा है इसलिए याद की यात्रा पक्की रहे। यही पुरुषार्थ करना है। अच्छा!

मीठे मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपनी उन्नति के लिए रूहानी सर्विस में तत्पर रहना है। जो भी ज्ञान रत्न मिले हैं उन्हें धारण करके दूसरों को कराना है।

2) अपनी जांच करनी है – हमारे में कोई आसुरी गुण तो नहीं हैं? हम ट्रस्टी बनकर रहते हैं? कभी लून-पानी तो नहीं बनते हैं? बुद्धि की लाइन क्लीयर है?

वरदान:- कहना, सोचना और करना – इन तीनों को समान बनाने वाले ज्ञानी तू आत्मा भव
अभी वानप्रस्थ अवस्था में जाने का समय समीप आ रहा है – इसलिए कमजोरियों के मेरे पन को वा व्यर्थ के खेल को समाप्त कर कहना, सोचना और करना समान बनाओ तब कहेंगे ज्ञान स्वरूप। जो ऐसे ज्ञान स्वरूप ज्ञानी तू आत्मायें हैं उनका हर कर्म, संस्कार, गुण और कर्तव्य समर्थ बाप के समान होगा। वे कभी व्यर्थ के विचित्र खेल नहीं खेल सकते। सदा परमात्म मिलन के खेल में बिजी रहेंगे। एक बाप से मिलन मनायेंगे और औरों को बाप समान बनायेंगे।
स्लोगन:- सेवाओं का उमंग छोटी-छोटी बीमारियों को मर्ज कर देता है, इसलिए सेवा में सदा बिजी रहो।

TODAY MURLI 12 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 12 December 2019

12/12/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, practise having remembrance and you will always stay cheerful and in bloom. You will continue to receive help from the Father and you will never wilt.
Question: Which intoxication should you children have whilst passing through this Godly student life?
Answer: Always maintain the intoxication that by studying this study you are becoming princes and princesses. Spend this life laughing, playing and dancing the dance of knowledge. Become an heir and constantly continue to make effort to become a flower. This college is for becoming princes and princesses. Here, as well as studying, you also have to teach. You have to create your subjects, because only then can you become a king. The Father is already educated; He doesn’t need to study.
Song: Do not forget the days of your childhood.

Om shanti. This song is especially for you children. Although it is a film song, some songs are especially for you children. When you worthy children listen to this song, its real meaning should emerge in your hearts. It is because you have become His children that the Father says “My beloved children”. It is only when you become a child of His that you can remember the inheritance you receive from the Father. If you do not become a child of His, you have to labour to remember Him. Children are aware that they will receive an inheritance from their father in the future. Here, this is Raj Yoga, not praja yoga (yoga to become subjects). You are to become those future princes and princesses. You are His children. You have to forget all your friends and relatives etc. No one except the One should be remembered. You should not even remember your bodies. You have to renounce body consciousness and become soul conscious. It is when you become body conscious that you have many wrong types of vicious thoughts that bring you down. When you continue to practise having remembrance you will remain constantly cheerful and in bloom like a flower. It is because you flowers forget to have remembrance that you wilt. When children have courage, the Father helps. In what way would the Father help you if you did not become His child? Because such souls allow Maya and Ravan to become their mother and father, they receive help from them to fall. So, this whole song, “Do not forget the days of your childhood”, has been composed for you children. You have to remember the Father. If you do not remember Him, you may smile today but you will cry tomorrow. By remembering Him you will stay constantly cheerful. You children know that the only scripture that contains some accurate words is the Gita. It has been written: If you die on the battlefield, you will go to heaven. This is not a question of a violent battle. You children have to conquer Maya by taking power from the Father. Therefore, you must definitely remember the Father, because only then will you become the masters of heaven. However, they have shown physical weapons. They heard the words “sword of knowledge, arrows of knowledge” and thus portrayed physical arrows when, in fact, they are really matters of knowledge. No one could actually have so many arms etc. So, this is the battlefield. You have to stay in yoga, take power and conquer the vices. By remembering the Father you will also remember the inheritance. Only an heir can claim an inheritance. If you do not become an heir you become part of the subjects. This is Raj Yoga, not praja yoga. This explanation cannot be given by anyone but the Father. The Father says: In order to come here, I have to take the support of this ordinary body. How could I teach you children Raj Yoga without taking the support of matter? When a soul leaves his body, there can be no conversation with him. Only when that soul adopts another body, takes birth and grows up a little can his intellect open again. Young children are pure anyway; they have no vices. Sannyasis climb that ladder and then come down. They understand what life is all about. It is because children are pure that they are remembered as being equal to mahatmas. Therefore, you children understand that when you leave your bodies, you will go and become princes and princesses. You became that previously and you are becoming that again. You students have these thoughts. These things will enter the intellects of those who are Baba’s children, those who are faithful, obedient and who follow shrimat. Otherwise, they won’t claim an elevated status. This Teacher is educated anyway. It is not that He studies and then teaches; no. This Teacher is already educated. He is called the knowledge-full One. No one else has the knowledge of the beginning, the middle and the end of the world. First of all, there has to be faith that He is the Father. If this is not in the fortune of some, they constantly have inner conflict. They feel that they won’t be able to continue. Baba has explained that when you come into the Father’s lap, the sickness of these vices will erupt with even greater force. Herbalists tell you that first of all the sickness will erupt. The Father too says: When you become Baba’s children, the sicknesses of body consciousness, anger and lust etc. will increase even more. How else could you be examined? If you are confused about any point, keep asking. It is when you become powerful that Maya punches you very hard to make you fall. You are in a boxing match. If you do not become a child of Baba’s, there can be no question of a boxing match. Such souls will continue to drown in their own vicious thoughts and not receive help. Baba understands that when you say “Mama and Baba” you have become the Father’s children and that it is firm in your hearts that this is your spiritual Father. However, although this is a battlefield, you must not be afraid or wonder whether you will be able to withstand a storm or not. That is called being weak. You have to become like a lion in this. You must accept the good directions you are given for your effort. You should ask the Father. There are many children who write to Baba about their stage. Only the Father can give you a certificate. You may be able to hide it from this one, but you cannot hide it from Shiv Baba. Although many try to hide it, nothing can remain hidden from Him. The fruit of anything good is good and the fruit of anything bad is bad. In the golden and silver ages, everything is good. It is here that good and bad as well as sin and charity exist. There are no donations or charity there; there is only your reward. When you surrender totally here, Baba gives you the return of that for 21 births. You have to follow the Father. If you do anything wrong you defame the Father’s name. This is why you are also given teachings. Everyone must become like Rup and Basant (embodiment of yoga who showers jewels of knowledge). Baba has taught you souls knowledge, so you then also have to shower this knowledge on others. You true Brahmins have to relate the true Gita. There is no question of any other scripture. The Gita is the main one. All the rest are its children. No one is benefited through them. No one is able to meet Me by studying them. I come once again to teach you easy gyan and easy yoga. The Gita is the jewel of all the scriptures, but you receive your inheritance by studying this true Gita. Krishna too received his inheritance by studying this Gita. The Father of the Gita, who is the Creator, is the One who gives you your inheritance. You do not receive it from the scripture, the Gita. Only One can be the Creator; everyone else is part of creation. The number one scripture is the Gita. You cannot receive the inheritance from the scriptures that come later on. You claim your inheritance directly. Everyone will receive their inheritance of liberation; everyone has to return home. However, you claim the inheritance of heaven by studying. It then depends on how much each of you studies. The Father comes here in person to teach you. Unless you have faith in who it is who is teaching you, what would you understand? What would you be able to attain? Nevertheless, if you continue to listen to the Father, the knowledge is never destroyed. The more happiness you receive, the more happiness you will give to others. You also have to create subjects so that you yourself can become a king. Your life is a student life. You laugh, play and dance the dance of knowledge here and you then go and become princes. You students know that you have to become princes, and so your degree of happiness should rise. This college is for princes and princesses. There, the colleges for princes and princesses are separate. They go there in their flying chariots. The flying chariots (vimans) there are foolproof; they never break down. No accident of any type will ever take place there. These things have to be understood. Firstly, your intellects must be in yoga with the Father. Secondly, you have to give your full news to the Father. You must tell Him how many have changed from thorns into buds. You have to maintain an accurate connection with the Father so that the Teacher can continue to give you directions. Who will become heirs and make the effort to become flowers? Some souls may change from thorns into buds but it is only when they become Baba’s children that they become flowers. Otherwise, they will only remain buds, which means that they will become one of the subjects. Each one of you will claim a status according to the effort you make now. It is not that you can catch hold of the tail of the one running ahead of you. That is what the people of Bharat believe. However, there is no question of catching hold of a tail. You receive the fruit of whatever you do. Whatever effort you make, the reward of that will be created for 21 generations. You will definitely grow old but there won’t be untimely death. The status is so high! The Father understands when the fortune of a particular soul has opened and that he has become an heir. He is now making effort but he also reports to Baba about the obstacles that come and about the things that happen. Each of you has to give in your chart. There isn’t as much effort involved at other satsangs. Baba makes small children into trance messengers. Those who carry messages are also needed in a battle. This is a battlefield. When you listen to Baba in person here, you enjoy it a great deal and your hearts become happy. As soon as you go outside into the company of storks, that happiness disappears. Outside, there is the dust of Maya, and this is why you have to become strong. Baba teaches you with so much love. He gives you so many facilities. There are many who say: This is good, this is good and then they disappear. Very few of them are able to stand up again. Here, you have to have intoxication of this knowledge. There is also the intoxication of alcohol. When a bankrupt person gets drunk and totally intoxicated, he thinks that he is a king of kings. Here, you children receive a daily glass of nectar. Day by day, you receive such points to imbibe that the locks on your intellects continue to open. Therefore, under all circumstances, you have to listen to or read a murli. People study the Gita every day. Here, too, you have to study with the Father every day. You should ask: What is the reason why I am unable to make progress? You should come here and understand. Those who have full faith that that One is our Father are the ones who will come. It isn’t that they make effort for their intellects to develop faith. There is only full faith; there can be no percentage in this. There is only the one Father from whom you receive the inheritance. Thousands study but they still ask how they can have faith. Such souls are called unfortunate. Fortunate souls are those who recognise the Father and accept Him. If a king says to a child: Let me adopt you, that child has faith in that as soon as he is adopted. He wouldn’t ask: How can I have faith? This is Raj Yoga. The Father is the Creator of heaven and so He is making you into the masters of heaven. If you do not have faith, then it is not in your fortune. Therefore, what could anyone else do about that? If you do not accept Him, how can you make effort? Such souls will just limp along. The people of Bharat receive their inheritance of heaven from the unlimited Father, cycle after cycle. The deities only exist in heaven. There are no real kingdoms in the iron age; it is government of the people by the people. This world is impure and so, if the Father didn’t make it into a pure world, who else would? If it is not in their fortune, they don’t understand. It is very easy to understand when and how Lakshmi and Narayan claimed their reward of the kingdom. It can only be due to the deeds they performed in their previous birth that they claimed the reward. Lakshmi and Narayan were the masters of heaven whereas this world is now hell. However, no one but the Father can teach you such elevated deeds and teach you Raj Yoga. Now that it is everyone’s last birth, the Father is teaching you Raj Yoga. He will not teach Raj Yoga in the copper age. The golden age doesn’t come after the copper age. Here, they understand very well but when they go outside they become empty. It is as though all the jewels fall out and all that is left in their boxes are pebbles. If, whilst listening to knowledge, a soul indulges in vice, he loses everything. The jewels of knowledge are erased from his intellect. Many write and say: Baba, having made effort, I have today fallen. If you fall, it means that you have defamed yourself and your clan; you have crossed out your fortune. The father of someone who acts wrongly at home would say: It would be better if such a child were dead! Therefore, this unlimited Father says: Do not defame the name of the clan. After donating the five vices, if you take them back again, your status would be destroyed. You have to make effort and gain victory. If you are hurt, stand up again! If you repeatedly get knocked down you would be defeated and become unconscious. The Father explains a lot, but they should at least stay here! Maya is very clever. If, after promising to remain pure, you fall, you would be hurt very badly. Only when you remain pure, can your boat go across. When there was purity, the star of Bharat’s fortune was shining. Now there is immense darkness. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. On this battlefield you must not be afraid of Maya. You must accept the good instructions that the Father gives you to make effort. Be faithful and obedient and continue to follow shrimat.
  2. In order to maintain spiritual intoxication, imbibe a glass of the nectar of knowledge you are given every day. Listen to or read a murli every day. In order to remain fortunate, you must never have any doubts about the Father.
Blessing: May you be a spiritual warrior (one holding the weapons) who makes the world peaceful with your tools of the power of silence.
The tools of the power of silence are your pure thoughts, your good wishes and language of the eyes. Just as you give the introduction of the Father and the creation with words, in the same way, on the basis of the power of silence and with the language of the eyes, you can give an experience of the Father with your eyes. Rather than physical tools of service, the power of silence is extremely elevated. This is the special weapon of the spiritual army. With this weapon, you can make the peaceless world peaceful.
Slogan: To remain free from obstacles and to free others from obstacles is proof of real service.

*** Om Shanti ***

 

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 12 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 December 2019

12-12-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – याद में रहने की प्रैक्टिस करो तो सदा हर्षितमुख, खिले हुए रहेंगे, बाप की मदद मिलती रहेगी, कभी मुरझायेंगे नहीं”
प्रश्नः- तुम बच्चों को यह गॉडली स्टूडेन्ट लाइफ किस नशे में बितानी है?
उत्तर:- सदा नशा रहे कि हम इस पढ़ाई से प्रिन्स-प्रिन्सेज बनेंगे। यह लाइफ हंसते-खेलते, ज्ञान का डांस करते बितानी है। सदा वारिस बन फूल बनने का पुरूषार्थ करते रहो। यह है प्रिन्स-प्रिन्सेज बनने का कॉलेज। यहाँ पढ़ना भी है तो पढ़ाना भी है, प्रजा भी बनानी है तब राजा बन सकेंगे। बाप तो पढ़ा हुआ ही है, उसे पढ़ने की जरूरत नहीं।
गीत:- बचपन के दिन भुला न देना……

ओम् शान्ति। यह गीत है खास बच्चों के लिए। भल है गीत फिल्मी परन्तु कुछ गीत हैं ही तुम्हारे लिए। जो सपूत बच्चे हैं उन्हों को गीत सुनते समय उसका अर्थ अपने दिल में ले आना पड़ता है। बाप समझाते हैं मेरे लाडले बच्चे, क्योंकि तुम बच्चे बने हो। जब बच्चा बनें तब तो बाप के वर्से की भी याद रहे। बच्चे ही नहीं बनें तो याद करना पड़ेगा। बच्चों को स्मृति रहती है हम भविष्य में बाबा का वर्सा लेंगे। यह है ही राजयोग, प्रजा योग नहीं। हम भविष्य में प्रिन्स-प्रिन्सेज बनेंगे। हम उनके बच्चे हैं बाकी जो भी मित्र-सम्बन्धी आदि हैं उन सबको भुलाना पड़ता है। एक बिगर दूसरा कोई याद न पड़े। देह भी याद न पड़े। देह-अभिमान को तोड़ देही-अभिमानी बनना है। देह-अभिमान में आने से ही अनेक प्रकार के संकल्प-विकल्प उल्टे गिरा देते हैं। याद करने की प्रैक्टिस करते रहेंगे तो सदैव हर्षित मुख खिले हुए फूल रहेंगे। याद को भूलने से फूल मुरझा जाता है। हिम्मते बच्चे मददे बाप। बच्चे ही नहीं बनें तो बाप मदद किस बात की करेंगे? क्योंकि उनका माई बाप फिर है रावण माया, तो उनसे मदद मिलेगी गिरने की। तो यह गीत सारा तुम बच्चों पर बना हुआ है-बचपन के दिन भुला न देना…..। बाप को याद करना है, याद नहीं किया तो जो आज हंसे कल फिर रोते रहेंगे। याद करने से सदैव हर्षित मुख रहेंगे। तुम बच्चे जानते हो एक ही गीता शास्त्र है, जिसमें कुछ-कुछ अक्षर ठीक हैं। लिखा है कि युद्ध के मैदान में मरेंगे तो स्वर्ग में जायेंगे। परन्तु इसमें हिंसक युद्ध की तो बात ही नहीं है। तुम बच्चों को बाप से शक्ति लेकर माया पर जीत पानी है। तो जरूर बाप को याद करना पड़े तब ही तुम स्वर्ग के मालिक बनेंगे। उन्होंने फिर स्थूल हथियार आदि बैठ दिखाये हैं। ज्ञान कटारी, ज्ञान बाण अक्षर सुना है तो स्थूल रूप में हथियार दे दिये हैं। वास्तव में हैं यह ज्ञान की बातें। बाकी इतनी भुजायें आदि तो कोई को होती नहीं। तो यह है युद्ध का मैदान। योग में रह शक्ति लेकर विकारों पर जीत पानी है। बाप को याद करने से वर्सा याद आयेगा। वारिस ही वर्सा लेते हैं। वारिस नहीं बनते तो फिर प्रजा बन पड़ते हैं। यह है ही राजयोग, प्रजा योग नहीं। यह समझानी बाप के सिवाए कोई दे न सके।

बाप कहते हैं मुझे इस साधारण तन का आधार ले आना पड़ता है। प्रकृति का आधार लेने बिगर तुम बच्चों को राजयोग कैसे सिखलाऊं? आत्मा शरीर को छोड़ देती है तो फिर कोई बातचीत हो नहीं सकती। फिर जब शरीर धारण करे, बच्चा थोड़ा बड़ा हो तब बाहर निकले और बुद्धि खुले। छोटे बच्चे तो होते ही पवित्र हैं, उनमें विकार होते नहीं। सन्यासी लोग सीढ़ी चढ़कर फिर नीचे उतरते हैं। अपने जीवन को समझ सकते हैं। बच्चे तो होते ही पवित्र हैं, इसलिए ही बच्चे और महात्मा एक समान गाये जाते हैं। तो तुम बच्चे जानते हो यह शरीर छोड़कर हम प्रिन्स-प्रिन्सेज बनेंगे। आगे भी हम बने थे, अब फिर बनते हैं। ऐसे-ऐसे ख्यालात स्टूडेन्टस को रहते हैं। यह भी उनकी बुद्धि में आयेगा जो बच्चे होंगे और फिर व़फादार, फरमानबरदार हो श्रीमत पर चलते होंगे। नहीं तो श्रेष्ठ पद पा न सकें। टीचर तो पढ़ा हुआ ही है। ऐसे नहीं कि वह पढ़ते हैं फिर पढ़ाते हैं। नहीं, टीचर तो पढ़ा हुआ ही है। उनको नॉलेजफुल कहा जाता है। सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त की नॉलेज और कोई नहीं जानते। पहले तो निश्चय चाहिए वह बाप है। अगर किसी की तकदीर में नहीं है तो फिर अन्दर में खिटखिट चलती रहेगी। पता नहीं चल सकेगा। बाबा ने समझाया है जब तुम बाप की गोद में आयेंगे तो यह विकारों की बीमारी और ही ज़ोर से बाहर निकलेगी। वैद्य लोग भी कहते हैं-बीमारी उथल खायेगी। बाप भी कहते हैं तुम बच्चे बनेंगे तो देह-अभिमान की और काम-क्रोध आदि की बीमारी बढ़ेगी। नहीं तो परीक्षा कैसे हो? कहाँ भी मूँझो तो पूछते रहो। जब तुम रूसतम बनते हो तब माया खूब पछाड़ती है। तुम बॉक्सिंग में हो। बच्चा नहीं बने हैं तो बॉक्सिंग की बात ही नहीं। वो तो अपने ही संकल्पों-विकल्पों में गोते खाते हैं, न कोई मदद ही मिलती है। बाबा समझते हैं-मम्मा-बाबा कहते हैं तो बाप का बच्चा बनना पड़े, फिर वह दिल में पक्का हो जाता है कि यह हमारा रूहानी बाप है। बाकी यह युद्ध का मैदान है, इसमें डरना नहीं है कि पता नहीं तूफान में ठहर सकेंगे वा नहीं? इसको कमजोर कहा जाता है। इसमें शेर बनना पड़े। पुरूषार्थ के लिए अच्छी मत लेनी चाहिए। बाप से पूछना चाहिए। बहुत बच्चे अपनी अवस्था लिखकर भेजते हैं। बाप को ही सर्टिफिकेट देना है। इनसे भल छिपायें परन्तु शिवबाबा से तो छिप न सके। बहुत हैं जो छिपाते हैं परन्तु उनसे कुछ भी छिप नहीं सकता। अच्छे का फल अच्छा, बुरे का फल बुरा होता है। सतयुग-त्रेता में तो सब अच्छा ही अच्छा होता है। अच्छा-बुरा, पाप-पुण्य यहाँ होता है। वहाँ दान-पुण्य भी नहीं किया जाता। है ही प्रालब्ध। यहाँ हम टोटल सरेन्डर होते हैं तो बाबा 21 जन्मों के लिए रिटर्न में दे देते हैं। फालो फादर करना है। अगर उल्टा काम करेंगे तो नाम भी बाप का बदनाम करेंगे इसलिए शिक्षा भी देनी पड़ती है। रूप-बसन्त भी सबको बनना है। हम आत्माओं को बाबा ने पढ़ाया है फिर बरसना भी है। सच्चे ब्राह्मणों को सच्ची गीता सुनानी है। और कोई शास्त्रों की बात नहीं। मुख्य है गीता। बाकी हैं उनके बाल बच्चे। उनसे कोई का कल्याण नहीं होता। मेरे को कोई भी नहीं मिलता। मैं ही आकर फिर से सहज ज्ञान, सहज योग सिखलाता हूँ। सर्व शास्त्रमई शिरोमणी गीता है, उस सच्ची गीता द्वारा वर्सा मिलता है। कृष्ण को भी गीता से वर्सा मिला, गीता का भी बाप जो रचयिता है, वह बैठ वर्सा देते हैं। बाकी गीता शास्त्र से वर्सा नहीं मिलता। रचयिता है एक, बाकी हैं उनकी रचना। पहला नम्बर शास्त्र है गीता तो पीछे जो शास्त्र बनते हैं उनसे भी वर्सा मिल न सके। वर्सा मिलता ही सम्मुख है। मुक्ति का वर्सा तो सबको मिलना है, सबको वापिस जाना है। बाकी स्वर्ग का वर्सा मिलता है पढ़ाई से। फिर जो जितना पढ़ेगा। बाप सम्मुख पढ़ाते हैं। जब तक निश्चय नहीं कि कौन पढ़ाते हैं तो समझेंगे क्या? प्राप्ति क्या कर सकेंगे? फिर भी बाप से सुनते रहते हैं तो ज्ञान का विनाश नहीं होता। जितना सुख मिलेगा फिर औरों को भी सुख देंगे। प्रजा बनायेंगे तो फिर खुद राजा बन जायेंगे।

हमारी है स्टूडेन्ट लाइफ। हंसते-खेलते, ज्ञान की डांस करते हम जाकर प्रिन्स बनेंगे। स्टूडेन्ट जानते हैं हमको प्रिन्स बनना है तो खुशी का पारा चढ़ेगा। यह तो प्रिन्स-प्रिन्सेज का कॉलेज है। वहाँ प्रिन्स-प्रिन्सेज का अलग कॉलेज होता है। विमानों में चढ़कर जाते हैं। विमान भी वहाँ के फुल प्रूफ होते हैं, कभी टूट न सकें। कभी एक्सीडेंट होना ही नहीं है, कोई भी किस्म का। यह सब समझने की बातें हैं। एक तो बाप से पूरा बुद्धि-योग रखना पड़े, दूसरा बाप को सभी समाचार देना पड़े कि कौन-कौन कांटों से कलियाँ बने हैं? बाप से पूरा कनेक्शन रखना पड़े, जो फिर टीचर भी डायरेक्शन देते रहें। कौन वारिस बन फूल बनने का पुरूषार्थ करते हैं? कांटों से कली तो बनें फिर फूल तब बनें जब बच्चा बनें। नहीं तो कली के कली रहेंगे अर्थात् प्रजा में आ जायेंगे। अब जो जैसा पुरूषार्थ करेगा, ऐसा पद पायेगा। ऐसे नहीं, एक के दौड़ने से हम उनका पूँछ पकड़ लेंगे। भारतवासी ऐसे समझते हैं। परन्तु पूँछ पकड़ने की तो बात ही नहीं, जो करेगा सो पायेगा। जो पुरूषार्थ करेगा, 21 पीढ़ी उनकी प्रालब्ध बनेगी। बूढ़े तो जरूर होंगे। परन्तु अकाले मृत्यु नहीं होती है। कितना भारी पद है। बाप समझ जाते हैं इनकी तकदीर खुली है, वारिस बना है। अभी पुरूषार्थी हैं फिर रिपोर्ट भी करते हैं, बाबा यह-यह विघ्न आते हैं, यह होता है। हर एक को पोतामेल देना होता है। इतनी मेहनत और कोई सतसंग में नहीं होती है। बाबा तो छोटे-छोटे बच्चों को भी सन्देशी बना देते हैं। लड़ाई में मैसेज ले जाने वाले भी चाहिए ना। लड़ाई का यह मैदान है। यहाँ तुम सम्मुख सुनते हो तो बहुत अच्छा लगता है, दिल खुश होती है। बाहर गये और बगुलों का संग मिला तो खुशी उड़ जाती है। वहाँ माया की धूल है ना इसलिए पक्का बनना पड़े।

बाबा कितना प्यार से पढ़ाते हैं, कितनी फैसल्टीज़ देते हैं। ऐसे भी बहुत हैं जो अच्छा-अच्छा कह फिर गुम हो जाते हैं, कोई विरला ही खड़ा हो सकता है। यहाँ तो ज्ञान का नशा चाहिए। शराब का भी नशा होता है ना। कोई देवाला मारा हो और शराब पिया, जोर से नशा चढ़ा तो समझेगा हम राजाओं का राजा हैं। यहाँ तुम बच्चों को रोज़ ज्ञान अमृत का प्याला मिलता है। धारण करने लिए दिन-प्रतिदिन प्वाइंट्स ऐसी मिलती रहती हैं जो बुद्धि का ताला ही खुलता जाता है इसलिए मुरली तो कैसे भी पढ़नी है। जैसे गीता का रोज़ पाठ करते हैं ना। यहाँ भी रोज़ बाप से पढ़ना पड़े। पूछना चाहिए मेरी उन्नति नहीं होती है, क्या कारण है? आकर समझना चाहिए। आयेंगे भी वह जिनको पूरा निश्चय है कि वह हमारा बाप है। ऐसा नहीं, पुरूषार्थ कर रहा हूँ-निश्चय बुद्धि होने के लिए। निश्चय तो एक ही होता है, उसमें परसेन्टेज़ नहीं होती। बाप एक है, उनसे वर्सा मिलता है। यहाँ हज़ारों पढ़ते हैं फिर भी कहें निश्चय कैसे करुँ? उनको कमबख्त कहा जाता है। बख्तावर वह जो बाप को पहचान और मान ले। कोई राजा कहे हमारी गोद का बच्चा आकर बनो तो उनकी गोद में जाने से ही निश्चय हो जाता है ना। ऐसे नहीं कहेंगे कि निश्चय कैसे हो? यह है ही राजयोग। बाप तो स्वर्ग का रचयिता है तो स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। निश्चय नहीं होता है तो तुम्हारी तकदीर में नहीं है, और कोई क्या कर सकते हैं? नहीं मानते तो फिर तदबीर कैसे हो सके? वह लंगड़ाता ही चलेगा। बेहद के बाप से भारतवासियों को कल्प-कल्प स्वर्ग का वर्सा मिलता है। देवता होते ही स्वर्ग में हैं। कलियुग में तो राजाई है नहीं। प्रजा का प्रजा पर राज्य है। पतित दुनिया है तो उसको पावन दुनिया बाप नहीं करेगा तो कौन करेगा? तकदीर में नहीं है तो फिर समझते नहीं। यह तो बिल्कुल सहज समझने की बात है। लक्ष्मी-नारायण ने यह राजाई की प्रालब्ध कब पाई? जरूर आगे जन्म के कर्म हैं तब ही प्रालब्ध पाई है। लक्ष्मी-नारायण स्वर्ग के मालिक थे, अभी नर्क है तो ऐसा श्रेष्ठ कर्म अथवा राजयोग सिवाए बाप के और कोई सिखला न सके। अभी सबका अन्तिम जन्म है। बाप राजयोग सिखला रहे हैं। द्वापर में थोड़ेही राजयोग सिखलायेंगे। द्वापर के बाद सतयुग थोड़ेही आयेगा। यहाँ तो बहुत अच्छी रीति समझकर जाते हैं। बाहर जाने से ही खाली हो जाते हैं जैसे डिब्बी में ठिकरी रह जाती हैं, रत्न निकल जाते। ज्ञान सुनते-सुनते फिर विकार में गिरा तो खलास। बुद्धि से ज्ञान रत्नों की सफाई हो जाती है। ऐसे भी बहुत लिखते हैं-बाबा, मेहनत करते-करते फिर आज गिर गया। गिरे गोया अपने को और कुल को कलंक लगाया, तकदीर को लकीर लगा दी। घर में भी बच्चे अगर ऐसा कोई अकर्तव्य करते हैं तो कहते हैं ऐसा बच्चा मुआ (मरा) भला। तो यह बेहद का बाप कहते हैं कुल कलंकित मत बनो। यदि विकारों का दान देकर फिर वापिस लिया तो पद भ्रष्ट हो जायेगा। पुरूषार्थ करना है, जीत पानी है। चोट लगती है तो फिर खड़े हो जाओ। घड़ी-घड़ी चोट खाते रहेंगे तो हार खाकर बेहोश हो पड़ेंगे। बाप समझाते तो बहुत हैं परन्तु कोई ठहरे भी। माया बड़ी तीखी है। पवित्रता का प्रण कर लिया, अगर फिर गिरते हैं तो चोट बड़े ज़ोर से लग पड़ती है। बेड़ा पार होता ही है पवित्रता से। प्योरिटी थी तो भारत का सितारा चमकता था। अब तो घोर अन्धियारा है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस युद्ध के मैदान में माया से डरना नहीं है, बाप से पुरूषार्थ के लिए अच्छी मत ले लेनी है। व़फादार, फरमानबरदार बन श्रीमत पर चलते रहना है।

2) रूहानी नशे में रहने के लिए ज्ञान अमृत का प्याला रोज़ पीना है। मुरली रोज़ पढ़नी है। तकदीरवान (बख्तावर) बनने के लिए बाप में कभी संशय न आये।

वरदान:- शान्ति की शक्ति के साधनों द्वारा विश्व को शान्त बनाने वाले रूहानी शस्त्रधारी भव
शान्ति की शक्ति का साधन है शुभ संकल्प, शुभ भावना और नयनों की भाषा है। जैसे मुख की भाषा द्वारा बाप का वा रचना का परिचय देते हो, ऐसे शान्ति की शक्ति के आधार पर नयनों की भाषा से नयनों द्वारा बाप का अनुभव करा सकते हो। स्थूल सेवा के साधनों से ज्यादा साइलेन्स की शक्ति अति श्रेष्ठ है। रूहानी सेना का यही विशेष शस्त्र है – इस शस्त्र द्वारा अशान्त विश्व को शान्त बना सकते हो।
स्लोगन:- निर्विघ्न रहना और निर्विघ्न बनाना – यही सच्ची सेवा का सबूत है।

TODAY MURLI 12 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 12 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 11 December 2018 :- Click Here

12/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, nothing here except Shiv Baba belongs to you. Therefore, go beyond even the consciousness of the body. Become as empty as a beggar. It is a beggar that will become a prince.
Question: Which thoughts do you stop having when you have accurate knowledge of the drama?
Answer: “Why has this sickness come?” “If I hadn’t done that, this would not have happened.” “Why has this obstacle come?” “Why has this bondage come?” All of these thoughts end when you have accurate knowledge of the drama, because whatever had to happen according to the drama had to take place. It also happened a cycle ago. This is an old body and so there will be many patches. This is why there should not be any unnecessary thoughts.
Song: We have to follow that path where we may fall and rise. So we have to be careful.… 

Om shanti. You have to follow that path. Which path? Who shows you the path? You children understand whose advice you are following. Call it advice or the path or shrimat, it is the same thing. You now have to follow shrimat, but whose shrimat? It has been written: Shrimad Bhagawad Gita. Therefore, our intellect’s yoga would surely be drawn to shrimat. Now, in whose remembrance are you children sitting? If you say: “Shri Krishna’s”, then you have to remember him there. Do you children remember Shri Krishna or not? Do you remember him in his form of the inheritance? You understand that you are to become princes. It is not that you become Lakshmi or Narayan at the moment of birth. We definitely remember Shiv Baba because He gives shrimat. Those who say “God Krishna speaks” will remember Krishna. If Krishna is remembered, where should he be remembered? He is remembered in heaven. Therefore, Krishna cannot use the word ‘Manmanabhav’. He can say ‘Madhyajibhav’ (see the one in the middle -Vishnu). He cannot say, “Remember me” because he is in heaven. The world does not know these things. The Father says: Children, all of those scriptures belong to the path of devotion. The Gita is included with all the religious scriptures. The Gita is definitely the religious scripture of Bharat. In fact, it is the scripture of everyone. It has been said that the Gita is the highest scripture, the jewel of all scriptures, which means it is the most elevated. Shiv Baba is the most elevated of all. He is Shri, Shri, the most elevated of all. Krishna cannot be called Shri Shri. ‘Shri Shri Krishna’ or ‘Shri Shri Rama’ cannot be said; they can only be called Shri. The One who is the most elevated of all comes and once again makes you elevated. God is the most elevated of all. Shri Shri means the One who is the most elevated of all. The names of those who are elevated are famous. Surely, the deities are called the most elevated ones, but they do not exist at the moment. Who is considered to be elevated nowadays? Leaders of today etc. are given so much respect. However, they cannot be called Shri. The word ‘Shri’ cannot be applied to the mahatmas either. You are now receiving knowledge from Supreme Soul, the One who is the Highest on High. The highest of all is the Supreme Father, the Supreme Soul. Then, there is His creation. Among that creation, Brahma, Vishnu and Shankar are the highest of all. Here, too, status is numberwise. The highest of all is the P resident, then the Prime Minister and then the Union Minister. The Father sits here and explains the secret of the beginning, the middle and the end of the world. God is the Creator. When you use the word ‘Creator’ people ask: How was the world created? This is why you definitely need to say that Trimurti Shiva is the Creator. In fact, instead of using the word ‘Creator’ it is better to say, “The One who inspires creation”. He inspires the establishment of the Brahmin clan through Brahma. What is established through Brahma? The deity community. Shiv Baba says: You are now the Brahmin community that belongs to Brahma. The other is the devilish community. You are the Godly community who will later become the deity community. The Father explains the essence of all the Vedas and scriptures through Brahma. Human beings are very confused and continue to beat their heads so much. They say that there should be birth control. The Father says: I come and do this service for Bharat. Here, human beings are tamopradhan. They give birth to 10 to 12 children. The tree definitely has to grow. Leaves will continue to emerge. No one can control this. There is control in the golden age. There is one son and one daughter, that’s all. Only you children understand these aspects. As you go further, more will come and they will continue to understand. It has been remembered that if you want to know about supersensuous joy, ask the gopes and the gopis. When you listen to Baba personally here, you experience happiness. Then, when you get involved with your business etc. you don’t experience as much happiness. Here, you are made trikaldarshi (seers of the three aspects of time). Those who are trikaldarshi are also called spinners of the discus of self-realisation. Human beings say that such-and-such a mahatma was trikaldarshi. You say that the masters of heaven, Radha and Krishna, did not have knowledge of the discus of self-realisation or the three aspects of time. Krishna, the one who is loved by all, is the first prince of the golden age. However, because of not understanding this, people say “You do not accept Shri Krishna as God and you are therefore atheists.” Then they create obstacles. There will be obstacles in this eternal sacrificial fire of knowledge. The kanyas (kumaris) and mothers also experience obstacles. Those who are in bondage have to tolerate a great deal, and so they should understand that, according to the drama , this is their part . When obstacles come, don’t have such thoughts as, “If I hadn’t done that, this would never have happened.” “If I had not done that, I would not have had a fever.” You cannot say these things now. According to the drama you did that, and you also did it in the previous cycle; this is why there is some difficulty. There will definitely be patching up of this old body. Repairs will continue to take place until the end. This is also the old home of the soul. The soul says: I too have become very old; I have no strength left. By having no strength, a weak person experiences sorrow. Maya causes a great deal of sorrow for those who are weak. Maya has definitely made us people of Bharat very weak. We were full of strength and then Maya made us weak. Now, when you try to conquer Maya, she becomes your enemy. It is Bharat that receives the most sorrow. Bharat is in debt to everyone. Bharat has become completely old. It used to be very wealthy, but it has now become a beggar. From a beggar it has to become a prince. Baba says: Go beyond the consciousness of your body and become empty. Nothing here belongs to you except one Shiv Baba and none other. Therefore, you have to become complete beggars. You are being shown many wise methods. There is also the example of Janak. While living at home with your family, remain as pure as a lotus flower and follow shrimat. You have to surrender everything. Janak gave everything, and then he was told to look after his own property and live as a trustee. There is also the example of Harish Chandra. The Father explains: Children, if you don’t sow a seed for yourself, your status will be reduced. Follow the father; this Dada is in front of you. He made Shiv Baba and the Shiv Shaktis complete trustees. However, Shiv Baba will not sit and look after anything. He will not surrender to Himself. He has to surrender Himself to the mothers. It is the mothers who have to be placed in front. The Father comes and gives the urn of the nectar of knowledge to the mothers to enable them to change humans into deities. It was not given to Lakshmi. At this time, she is Jagadamba. In the golden age, she will be Lakshmi. There is a very beautiful song about Jagadamba. People believe in her a great deal. How is she the bestower of fortune? From where does she receive her wealth? Was it from Brahma? Was it from Krishna? No. Wealth is received from the Ocean of Knowledge. These are very incognito things. God’s versions are for everyone. God belongs to everyone. He says to those of all religions: Remember Me alone. Although there are many worshippers of Shiva, they don’t know anything. Therefore, that is devotion. Who is now giving you knowledge? The most beloved Father. Krishna would not be called this. He is called the prince of the golden age. Although people worship Krishna, they don’t think about how he became the prince of the golden age. Previously, we too didn’t know. You children now know that you will once again definitely become princes and princesses. Only then, when you grow older, will you become worthy of marrying Lakshmi or Narayan. This knowle dge is for the future. You receive the fruit of this for 21 births. It cannot be said that Krishna gives the inheritance. The inheritance is received from the Father. Shiv Baba teaches Raja Yoga. Thousands of Brahmins take birth through the mouth of Brahma. They are the ones who receive these teachings. Only you are the Brahmins of the confluence age of the cycle, whereas the rest of the world belong to the iron age. They all say that they are now in the iron age and you say that you are at the confluence age. These aspects are not mentioned anywhere. Keep these new things in your heart. The main thing is to remember the Father and the inheritance. If you do not remain pure, you will never be able to have yoga; the law says this. Therefore, you will not claim a high status either. By having even a little yoga, you will go to heaven. The Father says: If you do not become pure, you will not be able to come to Me. Even if you stay at home, you will still be able to go to heaven and claim a good status, but only if you stay in yoga and remain pure. Without purity, you will not be able to have yoga. Maya will not allow you to have yoga. The Lord is pleased with those who have an honest heart. Those who continue to indulge in vice and say “I remember Shiv Baba” are only pleasing their own heart. The main thing is purity. People say: There should be birth contro l Do not give birth to any more children. This is the tamopradhan world. Baba is now making birth control possible. All of you are kumars and kumaris, and so there is no question of vice. Here, the daughters have to tolerate so much because of vice. Baba says: You must take great precautions. Is there anyone here who drinks alcohol? The Father is asking you children. If you tell lies, there will have to be severe punishment experienced from Dharamraj. You should speak the truth in front of God. Do you drink any alcohol at all, even as medicine? (None raised their hands). You definitely have to speak the truth here. If you make a mistake, you should write to Baba: Baba, I made this mistake; Maya slapped Me. Many write to Baba: Today, the evil spirit of anger came. I slapped someone. Your directions are that you should not slap anyone. It has been shown that Krishna was tied to a tree. All of those things are false. Children should be taught with a great deal of love; they should not be beaten. Stop a meal; don’t give them sweets: you can reform them in this way. To smack them is a sign of anger, and you would be getting angry with a great soul. Little children are like great souls. Therefore, you must not smack them. You cannot even insult them. You should never perform any such action that would give rise to the thought that you did something sinful. If you do, you should instantly write to Baba: Baba, I made this mistake. Forgive me. I will not do it again. Then you should repent for it. There, too, when Dharamraj gives punishment, they say that they are sorry and that they will never do it again. Baba says with great love: Beloved, worthy children, lovely children, don’t ever tell lies. Ask for advice at every step. Your money is now being used to change Bharat into heaven, and so every penny of yours is worth diamonds. It is not that you are donating and doing charity for the sannyasis etc. What do people receive when they build hospitals and collegesetc.? If they open a college, then, in their next birth they receive a good education. If they build a dharamshala, they receive a palace. Here, you receive unlimited happiness from the Father for birth after birth. You receive an unlimited lifespan. No one of any other religion has such a long lifespan as yours. There is a short lifespan here. Therefore, as you walk, as you move, remember the unlimited Father and you will remain in happiness. If there is any difficulty, then ask. However, this does not mean that anyone who is poor can say to Baba: Baba, I belong to You and I will stay with You. There are many poor ones like that in the world. Everyone would say: Let us stay in Madhuban. In that way, hundreds of thousands would congregate here. That too is not the law. You have to stay at home with your family; you cannot stay here like that. People in business always put one or two paisas aside in the name of God. Baba says: Achcha, if you are poor, don’t put anything aside. Understand knowledge and become Manmanabhav. What did your Mama give? She still became clever in knowledge. She is doing service with her mind and body. There is no question of money in that. If, at the most, you give one rupee, you receive as much as a wealthy person. First of all, you have to look after your household. You children shouldn’t be unhappy. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and namaste from the Mother, the Father, BapDada. Good morning. Salutations to the mothers. Salutations to the masters. May you be victorious.

Essence for dharna:

  1. Don’t perform any action for which you would have regrets afterwards and have to repent. Never tell lies. Remain honest with the true Father.
  2. Use every penny you have in a worthwhile way in order to change Bharat into heaven. Surrender yourself like Brahma Baba and become a trustee.
Blessing: May you be sensible and become free of sins by knowing the importance of the directions from instrument souls.
Sensible children will never think that perhaps the directions being given by the instrument souls are given because of someone saying something to them. Let such waste thoughts never arise for instrument souls. Even if someone makes a decision which you do not like, you are not responsible for that and so you will not accumulate sin in that because it is the Father who made that one an instrument and He can change that sin. This is an incognito significance, an incognito machinery.
Slogan: An honest person is one who loves God and loves the world, not one who loves to rest.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 12 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 12 December 2018

To Read Murli 11 December 2018 :- Click Here
12-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – शिवबाबा के सिवाए तुम्हारा यहाँ कुछ भी नहीं, इसलिए इस देह के भान से भी दूर खाली बेगर होना है, बेगर ही प्रिन्स बनेंगे”
प्रश्नः- ड्रामा की यथार्थ नॉलेज कौन-से ख्यालात समाप्त कर देती है?
उत्तर:- यह बीमारी क्यों आई, ऐसा नहीं करते तो ऐसा नहीं होता, यह विघ्न क्यों पड़ा. . . . बंधन क्यों आया…. यह सब ख्यालात ड्रामा की यथार्थ नॉलेज से समाप्त हो जाते हैं क्योंकि ड्रामा अनुसार जो होना था वही हुआ, कल्प पहले भी हुआ था। पुराना शरीर है इसे चत्तियां भी लगनी ही है इसलिए कोई ख्यालात चल नहीं सकते।
गीत:- हमें उन राहों पर चलना है…….. 

ओम् शान्ति। उन राहों पर चलना है, कौन-सी राहें? राह कौन बताता है? बच्चे जानते हैं कि हम किसकी राय पर चल रहे हैं। राय कहो, राह कहो वा श्रीमत कहो – बात एक ही है। अब श्रीमत पर चलना है। लेकिन श्रीमत किसकी? लिखा हुआ है श्रीमत भगवत गीता, तो जरूर श्रीमत की तरफ हमारा बुद्धियोग जायेगा। अब तुम बच्चे किसकी याद में बैठे हो? अगर श्रीकृष्ण कहते हो तो उनको वहाँ याद करना पड़े। तुम बच्चे श्रीकृष्ण को याद करते हो या नहीं? वर्से के रूप में याद करते हैं। यह तो जानते हो हम प्रिन्स बनेंगे। ऐसे तो नहीं, जन्मते ही लक्ष्मी-नारायण बनेंगे। बरोबर हम शिवबाबा को याद करते हैं क्योंकि श्रीमत उनकी है, कृष्ण भगवानुवाच कहने वाले कृष्ण को याद करेंगे, परन्तु कहाँ याद करेंगे? उनको तो याद किया जाता है वैकुण्ठ में। तो मनमनाभव अक्षर कृष्ण कह नहीं सकते, मध्याजी भव कह सकते हैं। मुझे याद करो वह तो वैकुण्ठ में ठहरा। दुनिया इन बातों को नहीं जानती। बाप कहते हैं-बच्चे, यह सब शास्त्र भक्ति मार्ग के हैं। सभी धर्म शास्त्रों में गीता भी आ जाती है। बरोबर गीता भारत का धर्म शास्त्र है। वास्तव में तो यह सभी का शास्त्र है। कहा भी जाता है श्रीमत सर्व शास्त्रमई शिरोमणि गीता। यानी सबसे उत्तम ठहरी। सभी से उत्तम है शिवबाबा श्री श्री, श्रेष्ठ से श्रेष्ठ। कृष्ण को श्री श्री नहीं कहेंगे। श्री श्री कृष्ण वा श्री श्री राम नहीं कहेंगे। उनको सिर्फ श्री कहेंगे। श्रेष्ठ से श्रेष्ठ जो है वही आकर फिर श्रेष्ठ बनाते हैं। श्रेष्ठ से श्रेष्ठ है भगवान्। श्री श्री अर्थात् सभी से श्रेष्ठ। श्रेष्ठ का नाम बाला है। श्रेष्ठ तो जरूर देवी-देवताओं को कहेंगे, जो अभी नहीं हैं। आजकल श्रेष्ठ किसको समझते हैं? अभी के लीडर्स आदि का कितना सम्मान करते हैं। परन्तु उन्हें श्री तो कह नहीं सकते। महात्मा आदि को भी श्री अक्षर नहीं दे सकते। अभी तुमको ऊंचे से ऊंचे परमात्मा से ज्ञान मिल रहा है। सबसे ऊंचा है परमपिता परमात्मा, फिर है उनकी रचना। फिर रचना में ऊंचे से ऊंचे हैं ब्रह्मा, विष्णु, शंकर। यहाँ भी नम्बरवार मर्तबे हैं। ऊंचे से ऊंचे प्रेजीडेंट फिर प्राइम मिनिस्टर, युनियन मिनिस्टर….।

बाप बैठ सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ समझाते हैं। भगवान् रचयिता है। अब रचयिता अक्षर कहने से मनुष्य पूछते हैं-सृष्टि कैसे रची गई? इसलिए यह जरूर कहना पड़ता है कि त्रिमूर्ति शिव रचयिता है। वास्तव में रचयिता के बजाए रचवाने वाला कहना ठीक है। ब्रह्मा द्वारा दैवी कुल की स्थापना कराते हैं। ब्रह्मा द्वारा स्थापना किसकी? दैवी सम्प्रदाय की। शिवबाबा कहते हैं अभी तुम हो ब्रह्मा की ब्राह्मण सम्प्रदाय, वह हैं आसुरी सम्प्रदाय, तुम हो ईश्वरीय सम्प्रदाय फिर दैवी सम्प्रदाय बनेंगे। बाप ब्रह्मा द्वारा सभी वेद-शास्त्रों का सार भी समझाते हैं। मनुष्य बहुत मूंझे हुए हैं, कितना माथा मारते रहते हैं – बर्थ कन्ट्रोल हो। बाप कहते हैं मैं आकर भारत की यह सर्विस कर रहा हूँ। यहाँ तो है ही तमोप्रधान मनुष्य। 10-12 बच्चे पैदा करते रहते। झाड़ वृद्धि को जरूर पाना ही है। पत्ते निकलते रहेंगे। इसको कोई कन्ट्रोल कर न सके। सतयुग में कन्ट्रोल है – एक बच्चा, एक बच्ची, बस। यह बातें तुम बच्चे ही समझते हो। आगे चल आते रहेंगे, समझते रहेंगे। गाया भी हुआ है अतीन्द्रिय सुख गोप-गोपियों से पूछो। यहाँ जब तुम सम्मुख सुनते हो तो सुख भासता है। फिर धन्धे-धोरी में जाने से इतना सुख नहीं भासता है। यहाँ तुमको त्रिकालदर्शी बनाया जाता है। त्रिकालदर्शी को स्वदर्शन चक्रधारी भी कहते हैं। मनुष्य कहते हैं फलाना महात्मा त्रिकालदर्शी था। तुम कहते हो वैकुण्ठनाथ राधे-कृष्ण को भी स्वदर्शन चक्र की वा तीनों कालों की नॉलेज नहीं थी। कृष्ण तो सभी का प्यारा सतयुग का फर्स्ट प्रिन्स है। परन्तु मनुष्य न समझने कारण कह देते कि तुम श्रीकृष्ण को भगवान् नहीं मानते इसलिए नास्तिक हो। फिर विघ्न डालते हैं। अविनाशी ज्ञान यज्ञ में विघ्न पड़ते हैं। कन्याओं-माताओं पर भी विघ्न आते हैं। बांधेलियां कितना सहन करती हैं, तो समझना चाहिए ड्रामा अनुसार हमारा पार्ट ऐसा ही है। विघ्न पड़ गया फिर यह ख्यालात नहीं चलना चाहिए कि ऐसे नहीं करते तो ऐसा नहीं होता, ऐसे नहीं करते तो बुखार नहीं होता… हम ऐसे नहीं कह सकते। ड्रामा अनुसार यह किया, कल्प पहले भी किया था, तब तकलीफ हुई। पुराने शरीर को चत्तियां भी लगनी ही हैं। अन्त तक मरम्मत होती रहेगी। यह भी आत्मा का पुराना मकान है। आत्मा कहती है मैं भी बहुत पुरानी हूँ, कोई ताकत नहीं रही। ताकत न होने कारण कमजोर आदमी दु:ख भोगते हैं। माया कमजोर को बहुत दु:ख देगी। हम भारतवासियों को बरोबर माया ने बहुत कमजोर किया है। हम बहुत ताकत वाले थे फिर माया ने कमजोर बना दिया, अब फिर उन पर जीत पाते हैं तो माया भी हमारी दुश्मन बनती है। भारत को ही जास्ती दु:ख मिलता है। सबसे कर्जा ले रहे हैं। भारत बिल्कुल पुराना हो गया। जो बिल्कुल साहूकार था, उनको बहुत बेगर बनना है। फिर बेगर से प्रिन्स। बाबा कहते इस शरीर के भान से भी दूर खाली हो जाओ। तुम्हारा यहाँ कुछ है नहीं, सिवाए एक शिवबाबा दूसरा न कोई। तो तुमको बहुत बेगर बनना पड़े। युक्तियां भी बताते रहते हैं। जनक का मिसाल – गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल समान रहना है, श्रीमत पर चलना है, सब सरेन्डर भी कर देना है। जनक ने सब कुछ दिया फिर उनको कहा कि अपनी मिलकियत तुम सम्भालो और ट्रस्टी होकर रहो। हरिश्चन्द्र का भी दृष्टान्त है।

बाप समझाते हैं-बच्चे, तुम अगर बीज नहीं बोयेंगे तो तुम्हारा पद कम हो जायेगा। फालो फादर, तुम्हारे सामने यह दादा बैठा है। बिल्कुल ही शिवबाबा और शिव-शक्तियों को ट्रस्टी बनाया। शिवबाबा थोड़ेही बैठ सम्भालेंगे। यह अपने पर थोड़ेही बलि चढ़ेगा। इनको माताओं पर बलि चढ़ना पड़े। माताओं को ही आगे करना है। बाप आकर ज्ञान अमृत का कलष माताओं को ही देते हैं कि मनुष्य को देवता बनायें। लक्ष्मी को नहीं दिया है। इस समय यह है जगत अम्बा, सतयुग में होगी लक्ष्मी। जगत अम्बा का गीत कितना अच्छा बना हुआ है। उनकी बहुत मान्यता है। वह सौभाग्य विधाता कैसे है, उनको धन कहाँ से मिलता है? क्या ब्रह्मा से? कृष्ण से? नहीं। धन फिर भी मिलता है ज्ञान सागर से। यह बड़ी गुप्त बातें हैं ना। भगवानुवाच है सबके लिए। भगवान् तो सबका है ना। सब धर्म वालों को कहते हैं मामेकम् याद करो। भल शिव के पुजारी भी बहुत हैं परन्तु जानते कुछ भी नहीं। वह हुई भक्ति। अब तुमको ज्ञान कौन देते हैं? मोस्ट बिलवेड फादर। कृष्ण को ऐसे नहीं कहेंगे, उनको सतयुग का प्रिन्स कहेंगे। भल कृष्ण की पूजा करते हैं परन्तु यह ख्याल नहीं करते कि वह सतयुग का प्रिन्स कैसे बना? आगे हम भी नहीं जानते थे। तुम बच्चे अब जानते हो बरोबर हम फिर से प्रिन्स-प्रिन्सेज बनेंगे तब तो फिर बड़े होकर लक्ष्मी-नारायण को वरेंगे ना। यह नॉलेज है ही भविष्य के लिए। इसका फल 21 जन्म के लिए मिलता है। कृष्ण के लिए नहीं कहेंगे कि वह वर्सा देते हैं। वर्सा बाप से मिलता है। शिवबाबा राजयोग सिखलाते हैं। ब्रह्मा के मुख से हजारों ब्राह्मण निकलते हैं, उन्हों को ही यह शिक्षा मिलती है। सिर्फ तुम ब्राह्मण हो कल्प के संगमयुग के, बाकी सारी सृष्टि है कलियुग की। वह सब कहेंगे अब हम कलियुग में हैं, तुम कहेंगे हम संगम पर हैं। यह बातें कहीं हैं नहीं। यह नई-नई बातें दिल में रखनी हैं। मुख्य बात है बाप और वर्से को याद करना। अगर पवित्र नहीं रहेंगे तो योग कभी नहीं लगेगा, लॉ नहीं कहता इसलिए इतना पद भी नहीं पा सकेंगे। थोड़ा योग लगाने से भी स्वर्ग में तो जायेंगे। बाप कहते हैं अगर पवित्र नहीं बनेंगे तो मेरे पास आ नहीं सकेंगे। भल घर बैठे भी स्वर्ग में आ सकते हैं, अच्छा पद पा सकते हैं, परन्तु तब, जबकि योग में रहें, पवित्र रहें। पवित्रता बिगर योग लगेगा नहीं। माया लगाने नहीं देगी। सच्चे दिल पर साहेब राज़ी होगा। जो विकार में जाते रहते हैं, कहते मैं शिवबाबा को याद करता हूँ, यह तो अपनी दिल खुश करते हैं। मुख्य है पवित्रता। कहते हैं बर्थ कन्ट्रोल करो, बच्चे पैदा मत करो। यह तो है ही तमोप्रधान दुनिया। अभी बाबा बर्थ कन्ट्रोल करा रहे हैं। तुम हो सभी कुमार-कुमारियां, तो विकार की बात नहीं। यहाँ तो विष पर बच्चियों को कितना सहन करना पड़ता है। बाबा कहते हैं बहुत परहेज रखनी है। यहाँ ऐसा तो कोई नहीं होगा जो शराब पीता होगा? बाप बच्चों से पूछते हैं। अगर झूठ बोलेंगे तो धर्मराज की कड़ी सजा भोगनी पड़ेगी। भगवान् के आगे तो सच बोलना चाहिए। कोई जरा भी शराब किसी कारण से अथवा दवाई रीति से पीते हैं? कोई ने हाथ नहीं उठाया। यहाँ सच जरूर बोलना है। कोई भी भूल होती है तो फिर से लिखना चाहिए-बाबा, मेरे से यह भूल हुई, माया ने थप्पड़ मार दिया। बाबा को तो बहुत लिखते भी हैं आज हमारे में क्रोध का भूत आ गया, थप्पड़ मार दिया। आपकी तो मत है थप्पड़ नहीं मारना चाहिए। दिखलाते हैं कृष्ण को ओखरी से बांधा। यह तो सब झूठी बातें हैं। बच्चों को प्यार से शिक्षा देनी चाहिए, मार नहीं देनी चाहिए। भोजन बंद करना, मिठाई न देना… ऐसे सुधारना चहिए। थप्पड़ मारना, क्रोध की निशानी हो जाती है। सो भी महात्मा पर क्रोध करते हैं। छोटे बच्चे महात्मा समान होते हैं ना इसलिए थप्पड़ नहीं मारना चाहिए। गाली भी नहीं दे सकते। ऐसा कर्म नहीं करना चहिए जो ख्याल में आये – हमने यह विकर्म किया। अगर किया तो फौरन लिखना चाहिए – बाबा हमसे यह भूल हुई, हमें क्षमा करो। आगे नहीं करेंगे। तोबाँ करते हैं ना। वहाँ भी धर्मराज सजा देते हैं, तो तोबाँ करते हैं – आगे फिर नहीं करेंगे। बाबा बहुत प्यार से कहते हैं लाडले सपूत बच्चे, प्यारे बच्चे कभी झूठ नहीं बोलना।

क़दम-क़दम पर राय पूछना है। तुम्हारा पैसा अब लगता है भारत को स्वर्ग बनाने में, तो कौड़ी-कौड़ी हीरे समान है। ऐसे नहीं, हम कोई सन्यासियों आदि को दान-पुण्य करते हैं। मनुष्य हॉस्पिटल अथवा कॉलेज आदि बनाते हैं तो क्या मिलता है? कॉलेज खोलने से दूसरे जन्म में विद्या अच्छी मिलेगी, धर्मशाला बनाने से महल मिलेगा। यहाँ तो तुमको जन्म-जन्मान्तर के लिए बाप से बेहद का सुख मिलता है। बेहद की आयु मिलती है। इससे बड़ी आयु और कोई धर्म वाले की होती नहीं। कम आयु भी यहाँ की गिनी जाती है तो अब बेहद के बाप को चलते-फिरते, उठते-बैठते याद करेंगे तब ही खुशी में रहेंगे। कोई भी तकलीफ हो तो पूछो। बाकी ऐसे थोड़ेही गरीब होंगे, कहेंगे बाबा हम तो आपके हैं, अब हम आपके पास बैठ जाते हैं। ऐसे तो दुनिया में गरीब बहुत हैं। सब कहें हमको मधुबन में रख लो, ऐसे तो लाखों इकट्ठे हो जाएं, यह भी कायदा नहीं। तुमको गृहस्थ व्यवहार में रहना है, यहाँ ऐसे रह नहीं सकते।

धन्धे में हमेशा ईश्वर अर्थ एक-दो पैसा निकालते हैं। बाबा कहते हैं-अच्छा, तुम गरीब हो, कुछ भी नहीं निकालो, नॉलेज को तो समझो और मनमनाभव हो जाओ। तुम्हारी मम्मा ने क्या निकाला, फिर वह ज्ञान में भी तीखी है। तन-मन से सेवा कर रही है। इसमें पैसे की बात नहीं। बहुत-बहुत करके एक रूपया दे देना, तुम्हें साहूकार जितना मिल जायेगा। पहले अपने गृहस्थ व्यवहार की सम्भाल करनी है। बच्चे दु:खी न हों। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। वन्दे मातरम्, सलाम मालेकम्। जय जय जय हो तेरी…. ओम् शान्ति।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ऐसा कोई कर्म नही करना है जिसके पीछे ख्याल चले, तोबा-तोबा (पश्चाताप्) करना पड़े। झूठ नहीं बोलना है। सच्चे बाप से सच्चा रहना है।

2) भारत को स्वर्ग बनाने में अपनी एक-एक कौड़ी सफल करनी है। ब्रह्मा बाप समान सरेन्डर हो ट्रस्टी बनकर रहना है।

वरदान:- निमित्त आत्माओं के डायरेक्शन के महत्व को जान पापों से मुक्त होने वाले सेन्सीबुल भव
जो सेन्सीबुल बच्चे हैं वो कभी यह नहीं सोचते कि यह निमित्त आत्मायें जो डायरेक्शन दे रही हैं शायद कोई के कहने से कह रही हैं। निमित्त बनी हुई आत्माओं के प्रति कभी यह व्यर्थ संकल्प नहीं उठाने चाहिए। मानो कोई ऐसा फैंसला भी दे देते हैं जो आपको ठीक नहीं लगता है, लेकिन आप उसमें जिम्मेवार नहीं हो, आपका पाप नहीं बनेगा क्योंकि जिसने इन्हें निमित्त बनाया है वह बाप, पाप को भी बदल लेगा, यह गुप्त रहस्य, गुप्त मशीनरी है।
स्लोगन:- ऑनेस्ट वह है जो प्रभु पसन्द और विश्व पसन्द है, आराम पसन्द नहीं।
Font Resize