11 may ki murli

TODAY MURLI 11 MAY 2021 DAILY MURLI (English)

11/05/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, only from the one Father, not from any bodily being, do you receive the blessing of peace and happiness. Baba has come to show you the path to liberation and liberation-in-life.
Question: What effort do you have to make in order to go back with the Father and then come at the beginning of the golden age?
Answer: If you want to go back with the Father, become completely pure. In order to come at the beginning of the golden age, break your intellect’s yoga away from everyone else and stay in remembrance of the one Father. Definitely become soul conscious. If you follow the directions of the one Father, you claim a right to an elevated status.
Song: Show the path to us blind ones, dear God!

Om shanti. Who sang this song? The children, because there is only the one Father and He is called the Creator. Creation calls out to the Creator. Baba has explained to you that you have two fathers on the path of devotion: one is of this world and the other is from beyond this world. The Father of all souls is One. Because of having one Father, all souls call themselves brothers. They call out to that Father: O God, the Father! O Supreme Father, have mercy! Forgive me! Only the one God is the Protector of Devotees. First of all, explain that you have two fathers. The Father from beyond is the same One for everyone, whereas everyone’s worldly father is different. Therefore, which one is greater, a worldly father or the Father from beyond this world? A worldly father can never be called God or the Supreme Father. The Father of souls is only the one Supreme Father, the Supreme Soul. The name of souls never changes, whereas the names of bodies change. Souls play their parts through different bodies, that is, they take rebirth. Only the Father comes and explains how many births souls eventually take. Children, you don’t know about your own births. The Father comes in Bharat and His name is Shiva. They understand that Shiva is the Supreme Soul and they also celebrate the birthday of Shiva or the night of Shiva. He is incorporeal, just as souls are incorporeal. He comes into a corporeal form from the incorporeal in order to play His part. Incorporeal Shiva cannot play a part without a body. People don’t understand these things at all; they are completely blind. Everyone’s body has two physical eyes, but souls do not have the third eye of knowledge which is also called the divine eye. Souls have forgotten their Father, for this is why they call out, “Show the path to us blind ones!” The path to where? To the land of peace and the land of happiness. The Bestower of Salvation and the Satguru for all is One. Human beings cannot become gurus for human beings and grant them salvation. Neither do they themselves attain salvation, nor are they able to grant it to others. Only the one Father grants salvation to all. Remember that one Father, Alpha! The Father explains: No human being can grant liberation, liberation-in-life, peace or happiness for all time to anyone. Only the one Father can grant the blessing of peace and happiness. Human beings cannot grant it to human beings. The people of Bharat were satopradhan when they were golden-aged residents of heaven. Souls were pure. Bharat was called heaven when souls were pure and satopradhan. You know that 5000 years before today, Bharat truly was satopradhan heaven; it was the kingdom of Lakshmi and Narayan. It is now the end of the iron age and is called hell. When this Bharat was heaven it was very wealthy; there were palaces studded with diamonds and jewels. The Father reminds you children of this. It became the kingdom of Lakshmi and Narayan at the beginning of the golden age. That was called heaven, Paradise. The Father explains that it is no longer heaven. Baba only comes in Bharat. The birthday of incorporeal Shiva is celebrated, but no one knows what He does. The Father of us souls is Shiva. We are celebrating His birthday. They don’t even know the biography of the Father. It is remembered: Everyone remembers God at a time of sorrow. They call out: O God, the Father, have mercy! We are very unhappy because this is the kingdom of Ravan. They continue to burn an effigy of Ravan every year, but they don’t know who Ravan with ten heads is. Why do we burn him? What sort of enemy is he that we make an effigy of him and then burn it? The people of Bharat don’t know this at all because they don’t have the third eye of knowledge. That is why they desire the kingdom of Rama. There are five vices in man and five vices in woman and that is why this is called the community of Ravan. The five vices of Ravan are the greatest enemy and that is why people make an effigy of him and then burn it. The people of Bharat don’t know who Ravan is, the one whom they burn. No one even knows when the kingdom of Ravan came into existence. The Father explains that the golden and silver ages are the kingdom of Rama and that the copper and iron ages are the kingdom of Ravan. It was the kingdom of Lakshmi and Narayan in the golden age. No one knows how or from whom they received their kingdom. These matters have to be understood. Attention has to be paid to these things. The Father is the most beloved and this is why they call out to Him on the path of devotion. When it was their (Lakshmi and Narayan’s) kingdom in Bharat, there was no name or trace of sorrow. It is now the land of sorrow and there are so many religions. In the golden age there was just the one religion. No one knows where all of these souls will go because they are all blind. No one receives the third eye of knowledge from the scriptures. Only the Ocean of Knowledge, the Supreme Father, the Supreme Soul, gives you the eye of knowledge. Each of you souls receives a third eye of knowledge. Souls have forgotten how many births they have taken. Where did the kingdom of the deities of the golden age go? It is remembered that human beings take 84 births. They speak of a cycle of 84, but which souls take 84 births? Those who came into Bharat first were the deities. They take 84 births and become impure by the end. They sing: O Purifier! This proves that they themselves are impure, which is why they call out: O Purifier, come and purify us! How can those who are impure purify anyone else? The Father explains: For half the cycle, it is the path of devotion in the kingdom of Ravan. The people of Bharat have experienced so much sorrow because of the five vices. They take 84 births. This calculation has to be explained. At first, in the golden age, you are satopradhan and then, in the silver age, you are sato. Alloy becomes mixed into souls. The Father only comes in Bharat. There is the birthday of Shiva. All other souls take birth through a womb. The Father says: I enter an ordinary old body at the end of this, the last of many births. This explanation is not given to just one person. This is a Gita Pathshala. This Raja Yoga is taught to you human beings in order to change you into deities. You have come here to attain the sovereignty of heaven that only the Father can give you. No one becomes a king just by studying the Gita. In fact, he becomes even poorer. The Father gives you the knowledge of the Gita and makes you into kings. By listening to the Gita from others you have become poor. When it was the kingdom of Lakshmi and Narayan in Bharat, there was puritypeace and prosperity. It was the pure family ashram. There was no mention of violence there. Violence began in the copper age. This has become your condition by using the sword of lust. In the golden age you were 100% solvent and satopradhan. None of the sages or holy men or any other people know this secret. The Father, who is the Ocean of Knowledge, the Purifier, comes and tells you the way to become satopradhan. Look what people’s condition has become by following Ravan’s dictates! Even kings fall at the feet of the idols and sing the praise of those who were pure kings in the past: You are full of all virtues and we are degraded sinners, we have no virtues. Then, they say: Have mercy on us! Come and make us worthy to be in a temple. No one can understand how the Father comes and once again carries out establishment of the original eternal deity religion. You now understand that you belonged to the deity religion. We became warriors, merchants and shudras and took this many births and we are now completing our 84 births. The cycle of the world has to turn again. This is why you once again have to become pure here. No one who is impure can go back to the land of peace or the land of happiness. The Father explains that those of you who were satopradhan have become tamopradhan. You have come from the golden age into the iron age. You once again have to become golden aged, for only then can you go to the land of liberation and the land of happiness. Bharat was the land of happiness. It is now the land of sorrow. You heard in the song: Show the path to us who are blind. How can we go to our land of peace? Those people say that God is omnipresent, that He incarnates in this and that etc. Would the Father become Parsuram and kill anyone (Scripture story of Rama with an Axe). That is impossible. The Father explains how you have taken 84 births in this cycle. Now remember Me, Alpha! O souls, become soul conscious! By becoming body conscious you have become completely poverty-stricken and unhappy. You have become residents of hell. If you wish to become residents of heaven you definitely have to become soul conscious. Souls shed their bodies and take others. Your 84 births have now come to an end and you have to go to the beginning of the golden age. Now, remember Me and break your intellects’ yoga away from others. You may live at home with your families, but keep the faith that you are souls. A soul sheds his body and takes another. Now become soul conscious and remember Me and the alloy will be burnt. You will become pure and I will then take all the children back home with Me. If you don’t follow My directions you will not claim such a high status. Lakshmi and Narayan claimed a high status. When it was their kingdom, there were no other religions. All other religions started to come in the copper age. In the golden age there are few human beings. Now, because there are many religions, they have become so unhappy. The deities became impure and they could therefore no longer call themselves deities. They then gave themselves the name Hindu. There is no Hindu religion. The Father explains: Ravan has made you like that. When you were worthy deities, you ruled the whole world and you were all very happy. You have now become unhappy. Bharat was heaven and it has now become hell. No one can therefore make hell into heaven without the Father. Deities are called completely viceless. People here are completely vicious; they are called impure. Bharat was the Temple of Shiva established by Shiv Baba. The Father creates heaven and Ravan makes it into hell. Ravan curses you whereas the Father gives you the inheritance for 21 births. Now, each of you has to remember the Father and not any bodily beings. Bodily beings are not called God. There is only one God. The Father gives you an unlimited inheritance and then Ravan curses you. At this time, Bharat is cursed and experiencing a great deal of sorrow. Ravan now has to be conquered. It is remembered: When you donate the vices, the omens of the eclipse are removed. Other, physical eclipses are shadows over the earth. The Father now says: There are the omens of the eclipse of the five vices over you. You have to donate these five vices. The first donation to make is that of never indulging in vice. It is this sword of lust that makes human beings impure. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. 1. Study with full attention the knowledge that the Father teaches you. In this last birth, understand your 84 births with your third eye of knowledge and become pure.
  2. In order to be saved from the curse of Ravan, stay in remembrance of the one Father. Donate the five vices. Follow the directions of the one Father.
Blessing: May you make your awareness, attitude and vision alokik and become free from all attractions.
It is said: “As are your thoughts, so is your world.” Every thought of the special souls who are instruments to make the world new should be elevated, that is, they should be alokik. When your awareness, attitude and vision all become alokik, no person or thing of this world can then attract you. If it does attract you, there is definitely something missing in your spirituality. Alokik (spiritual) souls are free from all attractions.
Slogan: Merge God’s love and His powers in your heart and your mind will never be confused.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 11 MAY 2021 : AAJ KI MURLI

11-05-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – सुख-शान्ति का वरदान एक बाप से ही मिलता है, कोई देहधारी से नहीं, बाबा आये हैं – तुम्हें मुक्ति-जीवनमुक्ति की राह दिखाने”
प्रश्नः- बाप के साथ जाने और सतयुग आदि में आने का पुरुषार्थ क्या है?
उत्तर:- बाप के साथ जाना है तो पूरा पवित्र बनना है। सतयुग आदि में आने के लिए और संग बुद्धियोग तोड़ एक बाप की याद में रहना है। आत्म-अभिमानी जरूर बनना है। एक बाप की मत पर चलेंगे तो ऊंच पद का अधिकार मिल जायेगा।
गीत:- नयन हीन को राह दिखाओ….

ओम् शान्ति। यह गीत किसने गाया? बच्चों ने क्योंकि बाप तो एक ही है, उसको ही रचयिता कहा जाता है। रचना, रचयिता को पुकारती है। बाबा ने समझाया है – भक्ति मार्ग में तो तुमको दो बाप हैं। एक लौकिक, दूसरा है पारलौकिक। सभी आत्माओं का बाप एक ही है। एक बाप होने से सभी आत्मायें अपने को ब्रदर्स कहते हैं। उस बाप को पुकारते हैं ओ गॉड फादर, ओ परमपिता रहम करो, क्षमा करो। भक्तों का रक्षक एक भगवान ही है। पहले-पहले तो यह समझाना चाहिए कि हमको दो बाप हैं। अब पारलौकिक बाप तो सभी का एक है। बाकी लौकिक बाप हर एक का अलग-अलग है। अब लौकिक बाप बड़ा वा पारलौकिक बाप बड़ा? लौकिक बाप को तो कभी भगवान वा परमपिता नहीं कहेंगे। आत्मा का बाप एक ही परमपिता परमात्मा है। आत्मा का नाम कभी बदलता नहीं है। शरीर का नाम बदलता है। आत्मा भिन्न-भिन्न शरीर ले पार्ट बजाती है अर्थात् पुनर्जन्म लेती है। आखिर भी कितने जन्म मिलते हैं। सो बाप ही आकर समझाते हैं। बच्चे तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो। बाप आते ही भारत में हैं, उनका नाम शिव है। समझते भी हैं शिव परमात्मा है। शिव जयन्ती वा शिवरात्रि भी मनाते हैं। वह निराकार है। जैसे आत्मा भी निराकार है, निराकार से साकार में आते हैं पार्ट बजाने। अब निराकार शिव तो शरीर बिगर पार्ट बजा न सके। मनुष्य इन बातों को कुछ भी नहीं समझते हैं, नयन हीन हैं। यह शरीर के दो नेत्र तो सबको हैं। तीसरा ज्ञान का नेत्र आत्मा को नहीं है, जिसको दिव्य-चक्षु भी कहते हैं। आत्मा अपने बाप को भूल गई है, इसलिए पुकारते हैं नयन हीन को राह बताओ। कहाँ की राह? शान्तिधाम और सुखधाम की। सर्व का सद्गति दाता, सतगुरू एक ही है। मनुष्य, मनुष्य का गुरू बन सद्गति दे नहीं सकता। न खुद सद्गति पाते हैं, न औरों को देते हैं। एक बाप ही सर्व को सद्गति देते हैं। उस अल्फ बाप को ही याद करना है। बाप समझाते हैं – कोई भी मनुष्य-मात्र मुक्ति-जीवनमुक्ति, शान्ति और सुख सदाकाल के लिए दे नहीं सकते। सुख-शान्ति का वरदान तो एक बाप ही दे सकते हैं। मनुष्य, मनुष्य को नहीं दे सकते। भारतवासी सतोप्रधान थे तो सतयुगी स्वर्गवासी थे। आत्मा पवित्र थी। भारत को स्वर्ग कहा जाता है जबकि आत्मायें पवित्र, सतोप्रधान थीं।

तुम जानते हो, बरोबर आज से 5 हजार वर्ष पहले भारत स्वर्ग, सतोप्रधान था। इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। अभी कलियुग का भी अन्त है, इसको नर्क कहा जाता है। यही भारत स्वर्ग था तो बहुत धनवान था। हीरे-जवाहरों के महल थे। बाप बच्चों को याद दिलाते हैं। सतयुग आदि में इन लक्ष्मी-नारायण की राजधानी थी। उसको स्वर्ग बैकुण्ठ कहा जाता है। अभी तो स्वर्ग है नहीं, यह बाप समझाते हैं। बाबा भारत में ही आते हैं। निराकार शिव की जयन्ती भी मनाते हैं, परन्तु वह क्या करते हैं, यह कोई नहीं जानते। हम आत्माओं का बाप शिव है, उनकी हम जयन्ती मनाते हैं। बाप की बायोग्राफी को भी नहीं जानते। गाया भी जाता है – दु:ख में सिमरण सब करें। पुकारते हैं ओ गॉड फादर रहम करो। हम बहुत दु:खी हैं क्योंकि यह रावण राज्य है। वर्ष-वर्ष रावण को जलाते हैं ना। परन्तु यह किसको पता नहीं कि 10 शीश वाला रावण क्या चीज़ है। हम उनको जलाते क्यों हैं, यह कौन सा दुश्मन है जो उनकी एफीज़ी बनाए जलाते हैं। भारतवासी बिल्कुल नहीं जानते क्योंकि ज्ञान का तीसरा नेत्र नहीं है तब तो रामराज्य माँगते हैं। 5 विकार स्त्री में, 5 विकार पुरूष में हैं इसलिए इनको रावण सम्प्रदाय कहा जाता है। यह रावण 5 विकार ही बड़े से बड़ा दुश्मन है, जिसका एफीजी बनाए जलाते हैं। भारतवासियों को यह पता नहीं पड़ता कि रावण है कौन, जिसको जलाते हैं। यह रावण राज्य कब से शुरू हुआ, यह भी किसको पता नहीं हैं। बाप समझाते हैं – रामराज्य – सतयुग, त्रेता। रावण राज्य – द्वापर, कलियुग। सतयुग में इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था, इन्हों को यह राज्य कहाँ से, कैसे मिला, यह कोई नहीं जानते। यह समझने की बातें है। इसमें अटेन्शन देना पड़ता है। मोस्ट बिलवेड बाप है तब तो उनको भक्ति मार्ग में भी पुकारते हैं। भारत में जब इन्हों का (लक्ष्मी-नारायण का) राज्य था तो दु:ख का नाम नहीं था। अभी दु:खधाम है, कितने अनेक धर्म हैं। सतयुग में एक धर्म था, इतनी सब आत्मायें कहाँ चली जायेंगी, किसको पता नहीं है क्योंकि नयनहीन हैं। शास्त्रों से ज्ञान का तीसरा नेत्र किसको नहीं मिलता है। ज्ञान नेत्र ज्ञान सागर परमपिता परमात्मा ही देते हैं। आत्मा को तीसरा नेत्र मिलता है। आत्मा भूल गई कि हमने कितने जन्म लिए हैं। सतयुग में जो देवी-देवताओं का राज्य था, वह कहाँ गया? गाते भी हैं मनुष्य 84 जन्म लेते हैं। 84 का चक्र कहते हैं। परन्तु कौन सी आत्मा 84 जन्म लेती है? जो पहले भारत में आते हैं वह थे देवी-देवता। फिर 84 जन्म भोग अन्त में पतित बन जाते हैं। गाते भी हैं – हे पतित-पावन, तो सिद्ध करते हैं हम पतित हैं इसलिए पुकारते हैं, हे पतित-पावन हमें पावन बनाने आओ। जो खुद ही पतित हैं वह फिर औरों को पावन कैसे बनायेंगे। बाप समझाते हैं आधाकल्प भक्ति मार्ग में रावण राज्य, 5 विकार होने कारण भारत ने इतना दु:ख को पाया है। 84 जन्म तो लेते ही हैं। उनका भी हिसाब समझाना चाहिए। पहले-पहले सतयुग में हैं सतोप्रधान, फिर त्रेता में हैं सतो….आत्मा में खाद पड़ती है। बाप आते ही भारत में हैं। शिव जयन्ती है ना। और सभी आत्मायें तो गर्भ में जन्म लेती हैं। बाप कहते हैं – मैं साधारण बूढ़े तन में प्रवेश करता हूँ, जिनका यह बहुत जन्मों के अन्त का जन्म है। यह समझानी कोई एक को नहीं दी जाती। यह गीता पाठशाला है। मनुष्य को देवता बनाने के लिए यह राजयोग सिखाया जाता है। तुम यहाँ आये हो स्वर्ग की बादशाही प्राप्त करने जो बाप ही दे सकते हैं। गीता पढ़ने से कोई राजा बनते नहीं हैं और ही रंक बनते जाते हैं। बाप गीता का ज्ञान सुनाए राजा बनाते हैं, औरों द्वारा गीता सुनने से रंक बन गये हैं। भारत में जब इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था तो प्योरिटी-पीस-प्रासपर्टी थी, पवित्र गृहस्थ आश्रम था। वहाँ हिंसा का नाम नहीं था फिर द्वापर से लेकर हिंसा शुरू हुई है। काम कटारी चलाते-चलाते तुम्हारी यह हालत आकर हुई है। सतयुग में 100 परसेन्ट सालवेन्ट थे, सतोप्रधान थे। यह राज़ कोई भी मनुष्य अथवा साधू-सन्त आदि नहीं जानते। बाप जो ज्ञान का सागर, पतित-पावन है वही आकर सतोप्रधान बनने की युक्ति बताते हैं। रावण की मत पर मनुष्यों का देखो क्या हाल हो गया है। राजे लोग भी, वह जो पवित्र राजायें होकर गये हैं उन्हों के चरणों में जाकर पड़ते हैं और महिमा गाते हैं – आप सर्वगुण सम्पन्न, हम नींच पापी हैं। हमारे में कोई गुण नहीं हैं फिर कहते हैं, आपेही तरस परोई। हमको आकर मन्दिर लायक बनाओ। किसकी भी समझ में नहीं आता कि बाप कैसे आकर फिर से देवी-देवता धर्म की स्थापना कराते हैं। अब तुम समझते हो हम सो देवी-देवता धर्म के थे। हम सो क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बनें, इतने जन्म लिए अब 84 जन्म पूरे हुए हैं। फिर दुनिया का चक्र फिरना चाहिए इसलिए फिर तुमको पावन यहाँ बनना है। पतित तो सुखधाम, शान्तिधाम में नहीं जा सकते। बाप समझाते हैं तुम जो सतोप्रधान थे वह तमोप्रधान बने हो। गोल्डन एज़ से फिर आइरन एज़ में आये हो फिर गोल्डन एज़ेड बनना है तब मुक्तिधाम, सुखधाम में जा सकेंगे। भारत सुखधाम था। अब दु:खधाम है। गीत में भी सुना – हम नयन हीन को राह बताओ…. हम अपने शान्तिधाम में कैसे जायें। वो लोग तो कह देते हैं – परमात्मा सर्वव्यापी है, फलाना अवतार है, परशुराम अवतार है। अब बाप परशुराम बन किसको मारते होंगे क्या? हो नहीं सकता। बाप समझाते हैं तुमने इस चक्र में कैसे 84 जन्म लिए हैं। अब मुझ अल्फ़ को याद करो। हे आत्मायें देही-अभिमानी बनो। देह-अभिमानी बन तुम बिल्कुल ही दु:खी कंगाल, नर्कवासी बन पड़े हो। अगर स्वर्गवासी बनना है तो आत्म-अभिमानी जरूर बनना है। आत्मा ही एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। अब 84 जन्म पूरे हुए हैं फिर सतयुग आदि में जाना है। अब मुझे याद करो और संग बुद्धियोग तोड़ो। रहो भल गृहस्थ व्यवहार में, अपने को आत्मा निश्चय करो। आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा लेती है। अब देही-अभिमानी बनना है, मुझे याद करो तो खाद सब जल जायेगी। तुम पवित्र बन जायेंगे फिर मैं सब बच्चों को ले जाऊंगा। अगर मेरी मत पर नहीं चलेंगे तो इतना ऊंच पद नहीं पायेंगे। इन लक्ष्मी-नारायण का ऊंच पद है। जब इन्हों का राज्य था तो और कोई धर्म नहीं था। द्वापर से फिर और धर्म आते हैं। सतयुग में मनुष्य भी थोड़े होते हैं। अब तो बहुत धर्म होने के कारण कितने दु:खी हो गये हैं। वही देवता धर्म वाले अब फिर पतित होने से अपने को देवता कहते नहीं हैं। हिन्दू नाम रख दिया है। हिन्दू तो कोई धर्म नहीं है। बाप समझाते हैं रावण ने तुमको ऐसा बना दिया है। तुम जब लायक देवी-देवता थे तब सारे विश्व पर राज्य था, सब सुखी थे। अब दु:खी बन पड़े हैं। भारत हेविन था वो अब हेल बन गया है फिर हेल को हेविन बाप बिगर कोई बना न सके। देवताओं को सम्पूर्ण निर्विकारी कहा जाता है। यहाँ के मनुष्य तो सम्पूर्ण विकारी हैं, इनको कहा जाता है पतित। भारत शिवालय था, शिवबाबा की स्थापना की हुई थी। बाप स्वर्ग बनाते हैं फिर रावण नर्क बनाते हैं। रावण श्राप देते हैं, बाप 21 जन्म के लिए वर्सा देते हैं। अब तुम हर एक बाप को ही याद करो, कोई भी देहधारी को नहीं। देहधारी को भगवान नहीं कहा जाता। भगवान तो एक ही है। बाप तो बेहद का वर्सा देते हैं फिर रावण श्रापित बना देते हैं। इस समय भारत श्रापित है, बहुत दु:खी है। अब इस रावण पर जीत पानी है। गाया भी जाता है दे दान तो छूटे ग्रहण। वो ग्रहण जो लगता है वह तो पृथ्वी का परछाया है। अब बाप कहते हैं तुम्हारे ऊपर 5 विकारों रूपी रावण का ग्रहण है। यह 5 विकार दान में दे देने हैं। पहला तो दान दो कि हम कभी विकार में नहीं जायेंगे। यह काम-कटारी ही मनुष्य को पतित बनाती है। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप जो नॉलेज देते हैं उसे पूरा अटेन्शन देकर पढ़ना है। ज्ञान के तीसरे नेत्र से अपने 84 जन्मों को जान अब अन्तिम जन्म में पावन बनना है।

2) रावण के श्राप से बचने के लिए एक बाप की याद में रहना है। 5 विकारों का दान दे देना है। एक बाप की मत पर चलना है।

वरदान:- अपनी स्मृति, वृत्ति और दृष्टि को अलौकिक बनाने वाले सर्व आकर्षणों से मुक्त भव
कहा जाता है -“जैसे संकल्प वैसी सृष्टि” जो नई सृष्टि रचने के निमित्त विशेष आत्मायें हैं उनका एक-एक संकल्प श्रेष्ठ अर्थात् अलौकिक होना चाहिए। जब स्मृति-वृत्ति और दृष्टि सब अलौकिक हो जाती है तो इस लोक का कोई भी व्यक्ति वा कोई भी वस्तु अपनी ओर आकर्षित नहीं कर सकती। अगर आकर्षित करती है तो जरूर अलौकिकता में कमी है। अलौकिक आत्मायें सर्व आकर्षणों से मुक्त होंगी।
स्लोगन:- दिल में परमात्म प्यार वा शक्तियां समाई हुई हों तो मन में उलझन आ नहीं सकती।

TODAY MURLI 11 MAY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 11 May 2020

11/05/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, whatever you see with your eyes is all the paraphernalia of the old world. It has to be destroyed. Therefore, remove this land of sorrow from your intellects.
Question: What do human beings blame the Father for when, in fact, it is no one’s fault?
Answer: Human beings believe that the huge destruction that takes place is inspired by God, that He is the One who causes sorrow as well as gives happiness. They have put all the blame on the Father. The Father says: Children, I am always the Bestower of Happiness. I cannot cause sorrow for anyone. If I inspired destruction to take place, all the sin would then fall on Me. Everything happens according to the drama. I do not inspire it.
Song: O traveller of the night, do not become weary. The destination of dawn is not far off.

Om shanti. Many songs are very good for teaching you children. You will be able to speak knowledge by extracting the meaning of such songs. It is in the intellects of you children that the pilgrimages of the night have come to an end and that you are all on the pilgrimage of the day. The pilgrimages of the night, where you stumble around in the dark, are on the path of devotion. While going on the pilgrimages of the night for half a cycle, you have been continuing to come down. You have now come here to go on the pilgrimage of the day. Only once do you go on this pilgrimage. You know that by going on the pilgrimage of remembrance, you change from tamopradhan to satopradhan and that you then become the masters of the satopradhan golden age. By becoming satopradhan, you become the masters of the golden age. Then, by becoming tamopradhan, you become the masters of the iron age. That is called heaven and this is called hell. You children are now remembering the Father. You only receive happiness from the Father. Those who are unable to speak knowledge should simply remember that the land of peace is the home of us souls, that the land of happiness is the kingdom of heaven and that this is now the land of sorrow, the kingdom of Ravan. The Father says: Now forget this land of sorrow. Although you are living here, let your intellects remember that whatever you see with your eyes, it all belongs to the kingdom of Ravan. All of those bodies you see are also the paraphernalia of the old world. All of that paraphernalia has to be sacrificed into this sacrificial fire. When those impure brahmins create a sacrificial fire, they sacrifice sesame seeds etc. into it. Destruction has to take place. The Highest on High is the Father. Then comes Brahma and Vishnu. Shankar does not have such an important part. Destruction has to take place. The Father inspires destruction to take place in such a way that no one accumulates sin for that. If it were said that God carries out destruction, He would be blamed for it. This is why it is all fixed in the drama. This is the unlimited drama, which no one knows. No one knows the Creator or creation. Because they don’t know Him, they have become orphans; they have no Lord or Master. When there is no father in a family, the children fight and they are asked: Do you not have a master? There are now millions of human beings who have no master; there is fighting in every nation. In the same home, children fight with their father, and the wife fights with her husband. There is peacelessness in the land of sorrow. It is not that God, the Father, creates sorrow. People think that it is the Father, who gives happiness and causes sorrow. However, the Father can never cause sorrow. He is called the Bestower of Happiness and so how could He cause sorrow? The Father says: I make you very happy. First of all, consider yourselves to be souls. Souls are imperishable and bodies are perishable. The supreme abode is the place of residence of us souls and it is also called the abode of silence. These words are accurate. Heaven would not be called the supreme abode. Param means the land beyond. Heaven exists here. The incorporeal world is the land beyond, where we souls reside. You play your parts of happiness and sorrow here. When people say that So-and-so went to heaven, that is absolutely wrong. Heaven does not exist now; it is now the iron age. At this time, you are at the confluence age whereas everyone else is in the iron age. In the same home, the father is in the iron age whereas the child is in the confluence age; the wife is at the confluence age and the husband is in the iron age. There is such a difference! If the wife takes knowledge but the husband does not, they don’t co-operate with each other. Then there is conflict in that home. The wife becomes a flower, whereas he remains a thorn. In the same home, the child knows that, while at the confluence age, he is becoming a pure elevated deity but the father tells him to get married and ruin himself, to become a resident of hell. The spiritual Father says: Children, now become pure. Your purity of the present time will last you for 21 births. This kingdom of Ravan has to be destroyed. People burn an effigy of whoever their enemy is. Therefore, the effigy of Ravan is burnt. There should be so much hatred for that enemy, but no one knows who Ravan is. They incur a great deal of expense in burning that effigy. They do not incur as much expense in burning human beings. These things do not exist in heaven. There, they simply switch on electricity and it’s all over. There, they do not even have the thought that those ashes will be of some use. There, the systems and customs are such that there is no question of any difficulty or tiredness. There is so much happiness there. Therefore, the Father explains: Now, constantly make effort to remember Me alone. This is a battle of staying in remembrance. The Father continues to explain to you children: Sweet children, continue to be vigilant and pay special attention to yourselves. Take care that Maya does not cut off your nose and ears because she is your enemy. You remember the Father and then Maya blows you away in her storms. That is why Baba says: Each of you should write a chart as to how much you remembered the Father throughout the day. Where did your mind wander to? Note down in your diary for how long you remembered the Father. Check yourself so that Maya can see that you are very courageous and that you are paying attention to yourself very well. Be fully vigilant. The Father now comes to give you children His introduction. He says: You may look after your homes and families, simply remember the Father. This one is not like those sannyasis. They live on what they have begged for but they still have to perform actions. You can tell them that they are hatha yogis. Only the one God can teach Raja Yoga. You children are now at the confluence age. You have to remember this confluence age. It is at this confluence age that we become the most elevated deities. We used to be the most elevated human beings, that is, worthy of worship deities, and we have now become the lowest of beings. We have become useless. What are we now becoming? When people study to become barristers, they do not claim a status at that time. Only when they pass the exam can they claim the hat of their status. Then they become engaged in government service. You understand that God, the Highest on High, is now teaching you. Therefore, He will definitely give you the highest on high status. This is your aim and objective. The Father says: Now, constantly remember Me alone. I have explained to you who I am. I am the Father of all souls, a point of light. I have the entire knowledge. You did not know previously that a soul is a point of light. The entire imperishable parts of your 84 births are recorded in you. Christ played his part and left; he will definitely return once again. All the followers of Christ will also return. Even the Christ soul must now be tamopradhan. All the founders of religions, who were the highest of all, are now tamopradhan. This one also says: I have become tamopradhan at the end of my many births and I am now becoming satopradhan again. The same applies to you. You know that you have now become Brahmins in order to become deities. No one knows the meaning of the variety-form image. You children now know that when you souls reside in the sweet home, you are pure. You become impure after coming here. This is why you called out: O Purifier come and purify us so that we can go home to the land of liberation. This point also has to be imbibed. Human beings do not understand what the land of liberation is or what the land of liberation-in-life is. The land of liberation is called the land of peace. The land of liberation in life is called the land of happiness. Here, there is bondage of the land of sorrow. Liberation in life is called relationships of happiness. The bondages of sorrow are now to be removed. We are making effort to claim a high status. Therefore, you should have the intoxication that you are establishing your kingdom by following shrimat. Jagadamba becomes number one. We will also follow her. The children who now sit on the heart-throne of the mother and father claim their throne in the future. Only those who remain busy in service day and night can sit on the heart-throne. Give everyone the message to remember the Father. You must not take even one penny. People think that when you go to tie a rakhi on them, they have to give you something. Tell them: Simply give us the donation of the five vices; we do not want anything else. We have come to take this donation from you. This is why a rakhi for purity is tied on you. Remember the Father, become pure and you will become deities. We cannot accept money from you. We are not those brahmins. Simply give us the donation of the five vices and the bad omens will be removed. There are no celestial degrees remaining. There is an eclipse over everyone. You are Brahmins, are you not? Wherever you go, tell them: Give this donation and the eclipse will be removed. Become pure. Never indulge in vice. Remember the Father and your sins will be absolved and you will become flowers. You were once flowers, but you have now become thorns. Whilst taking 84 births, you have been coming down. You now have to return home. Baba has given directions through this one. He is God, the Highest on High. He doesn’t have a body of His own. Achcha, do Brahma, Vishnu and Shankar have bodies? You would say: Yes, they have subtle bodies. However, that is not a world of human beings. The whole play takes place here. How could there be a play in the subtle region? In fact, there is no sun or moon in the incorporeal world and so, how could there be a play there? This is a huge canopy. Rebirth takes place here; it does not take place in the subtle region. The whole of this unlimited play is now in your intellects. You have now come to know that you were deities and that you then fell onto the path of sin. The path of sin is also called the path of viciousness. We were pure for half a cycle. This play of victory and defeat is all about us. Bharat is the imperishable land; it can never be destroyed. At that time, when the original eternal deity religion used to exist, there were no other religions. Only those who accepted these things a cycle ago will do so again. There cannot be anything older than 5,000 years. You will go first to the golden age and build your own palaces. It is not that your city of gold will emerge from the sea. They have portrayed deities emerging from the sea giving platefuls of jewels. In fact, the Father, who is the Ocean of Knowledge, is giving you platefuls of the jewels of knowledge. Shankar has been portrayed telling the story of immortality to Parvati and filling her apron with jewels of knowledge. They also say of Shankar that he used to drink an intoxicating drink. People go in front of an idol of him and ask him to fill their aprons and give them wealth. Therefore, just look how they have also defamed Shankar! They defame Me the most. This too is part of the play and it will take place again. No one knows this play. I come and explain the secrets of everything to you from the beginning to the end. You also know that the Father is the Highest on High. No one understands how Vishnu becomes Brahma or how Brahma becomes Vishnu. You children are now making effort to become part of Vishnu’s clan. You have become Brahmins in order to become the masters of the land of Vishnu. It is in the hearts of you Brahmins that you are establishing the sun and moon dynasty kingdoms for yourselves by following shrimat. There is no question of fighting etc. in this. No battle between deities and devils ever takes place. Deities exist in the golden age. How could a battle take place there? You Brahmins are now becoming the masters of the world through the power of yoga. Those with physical power attain destruction. With your power of silence, you gain victory over science. You now have to become soul conscious. I am a soul; I now have to return home. Souls are very fast. Such aeroplanes have now been invented that they can take you from one place to another place far away within an hour. Souls are even faster than that. A soul leaves one place and takes a body somewhere else just at the snap of the fingers. Some even go to foreign lands and take birth there. A soul is the fastest rocket. There is no question of any machinery in this. They renounce their bodies and run somewhere else. It is in the intellects of you children that you now have to return home. Impure souls cannot return home. After becoming pure you will return home; all the rest will go after experiencing punishment. A lot of punishment is experienced. There, they stay in great comfort in the palace of a womb. Some children have had visions of how Krishna takes birth. There is no question of anything dirty in that. Suddenly, there is a lot of light. You are now becoming the masters of Paradise. Therefore, you should make effort accordingly. Your food and drink have to be clean and pure. Dal and rice are the best. At Rishikesh, sannyasis just take food from a window and then leave. They are of different types. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remain vigilant in paying attention to yourself. Beware of Maya. Keep an honest chart of remembrance.
  2. Follow the mother and father and become seated on the heart throne. Remain busy in service day and night. Give everyone the message to remember the Father. Give the donation of the five vices and the eclipse will be removed.
Blessing: May you be a mahavir who experiences happiness and contentment in situations of discontentment by having remembrance of the Father.
Those who constantly stay in remembrance of the Father remain content in every situation. This is because, on the basis of the power of knowledge, even a situation as big as a mountain is experienced to be like a mustard seed; a mustard seed means it is nothing. Even in a situation of discontentment, or a situation of sorrow, when you maintain a stage of happiness, then you would be called a mahavir. No matter what happens, together with “nothing new”, and with awareness of the Father, you can have a constantly constant and stable stage, then waves of sorrow and peacelessness cannot then come to you.
Slogan: Constantly keep your divine form in your awareness and no one will be able to have any wasteful vision towards you.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 11 MAY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 May 2020

Murli Pdf for Print : – 

11-05-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम इन आंखों से जो कुछ देखते हो यह सब पुरानी दुनिया की सामग्री है, यह समाप्त होनी है, इसलिए इस दु:खधाम को बुद्धि से भूल जाओ”
प्रश्नः- मनुष्यों ने बाप पर कौन-सा दोष लगाया है लेकिन वह दोष किसी का भी नहीं है?
उत्तर:- इतना बड़ा जो विनाश होता है, मनुष्य समझते हैं भगवान ही कराता है, दु:ख भी वह देता, सुख भी वह देता। यह बहुत बड़ा दोष लगा दिया है। बाप कहते – बच्चे, मैं सदा सुख दाता हूँ, मैं किसी को दु:ख नहीं दे सकता। अगर मैं विनाश कराऊं तो सारा पाप मेरे पर आ जाए। वह तो सब ड्रामा अनुसार होता है, मैं नहीं कराता हूँ।
गीत:- रात के राही………..

ओम् शान्ति। बच्चों को सिखलाने के लिए कई गीत बड़े अच्छे हैं। गीत का अर्थ करने से वाणी खुल जायेगी। बच्चों की बुद्धि में तो है कि हम सभी दिन की यात्रा पर हैं, रात की यात्रा पूरी होती है। भक्ति मार्ग है ही रात की यात्रा। अन्धियारे में धक्का खाना होता है। आधाकल्प रात की यात्रा कर उतरते आये हो। अभी आये हो दिन की यात्रा पर। यह यात्रा एक ही बारी करते हो। तुम जानते हो याद की यात्रा से हम तमोप्रधान से सतोप्रधान बन फिर सतोप्रधान सतयुग के मालिक बनते हैं। सतोप्रधान बनने से सतयुग के मालिक, तमोप्रधान बनने से कलियुग के मालिक बनते हो। उनको कहा जाता है स्वर्ग, इनको कहा जाता है नर्क। अब तुम बच्चे बाप को याद करते हो। बाप से सुख ही मिलता है। जो और कुछ बोल नहीं सकते हैं वह सिर्फ यह याद रखें – शान्तिधाम है हम आत्माओं का घर, सुखधाम है स्वर्ग की बादशाही और अभी यह है दु:खधाम, रावणराज्य। अब बाप कहते हैं इस दु:खधाम को भूल जाओ। भल यहाँ रहते हो परन्तु बुद्धि में यह रहे कि इन आंखों से जो कुछ देखते हैं वह सब रावणराज्य है। इन शरीरों को देखते हैं, यह भी सारी पुरानी दुनिया की सामग्री है। यह सारी सामग्री इस यज्ञ में स्वाहा होनी है। वह पतित ब्राह्मण लोग यज्ञ रचते हैं तो उनमें जौं-तिल आदि सामग्री स्वाहा करते हैं। यहाँ तो विनाश होना है। ऊंच ते ऊंच है बाप, पीछे है ब्रह्मा और विष्णु। शंकर का इतना कोई पार्ट है नहीं। विनाश तो होना ही है। बाप तो विनाश उनसे कराते हैं जिस पर कोई पाप न लगे। अगर कहें भगवान विनाश कराता है तो उस पर दोष आ जाए इसलिए यह सब ड्रामा में नूँध है। यह बेहद का ड्रामा है, जिसको कोई जानते नहीं हैं। रचता और रचना को कोई नहीं जानते। न जानने कारण निधनके बन पड़े हैं। कोई धनी है नहीं। कोई घर में बाप नहीं होता है और आपस में लड़ते हैं तो कहते हैं तुम्हारा कोई धनी नहीं है क्या! अभी तो करोड़ों मनुष्य हैं, इनका कोई धनीधोणी नहीं है। नेशन-नेशन में लड़ते रहते हैं। एक ही घर में बच्चे बाप के साथ, पुरूष स्त्री के साथ लड़ते रहते हैं। दु:खधाम में है ही अशान्ति। ऐसे नहीं कहेंगे भगवान बाप कोई दु:ख रचते हैं। मनुष्य समझते हैं दु:ख-सुख बाप ही देते हैं परन्तु बाप कभी दु:ख दे न सके। उनको कहा ही जाता है सुख-दाता तो फिर दु:ख कैसे देंगे। बाप तो कहते हैं हम तुमको बहुत सुखी बनाते हैं। एक तो अपने को आत्मा समझो। आत्मा है अविनाशी, शरीर है विनाशी। हम आत्माओं के रहने का स्थान परमधाम है, जिसको शान्तिधाम भी कहा जाता है। यह अक्षर ठीक है। स्वर्ग को परमधाम नहीं कहेंगे। परम माना परे ते परे। स्वर्ग तो यहाँ ही होता है। मूलवतन है परे ते परे, जहाँ हम आत्मायें रहती हैं। सुख-दु:ख का पार्ट तुम यहाँ बजाते हो। यह जो कहते हैं फलाना स्वर्ग पधारा। यह है बिल्कुल रांग। स्वर्ग तो यहाँ है नहीं। अभी तो है कलियुग। इस समय तुम हो संगमयुगी, बाकी सब हैं कलियुगी। एक ही घर में बाप कलियुगी तो बच्चा संगमयुगी। स्त्री संगमयुगी, पुरूष कलियुगी……. कितना फ़र्क हो जाता है। स्त्री ज्ञान लेती, पुरूष ज्ञान नहीं लेते तो एक-दो को साथ नहीं देते। घर में खिट-खिट हो जाती है। स्त्री फूल बन जाती है, वह कांटे का कांटा रह जाता। एक ही घर में बच्चा जानता है हम संगमयुगी पुरूषोत्तम पवित्र देवता बन रहे हैं, लेकिन बाप कहते शादी बरबादी कर नर्कवासी बनो। अब रूहानी बाप कहते हैं – बच्चे, पवित्र बनो। अभी की पवित्रता 21 जन्म चलेगी। ये रावणराज्य ही खलास हो जाना है। जिससे दुश्मनी होती है तो उनका एफिज़ी जलाते हैं ना। जैसे रावण को जलाते हैं। तो दुश्मन से कितनी घृणा होनी चाहिए। परन्तु यह किसको मालूम नहीं कि रावण कौन है? बहुत ही खर्चा करते हैं। मनुष्य को जलाने के लिए इतना खर्चा नहीं करते। स्वर्ग में तो ऐसी कोई बात होती नहीं। वहाँ तो बिजली में रखा और खत्म। वहाँ यह ख्याल नहीं रहता कि उनकी मिट्टी काम में आये। वहाँ की तो रस्म-रिवाज ऐसी है जो कोई तकलीफ अथवा थकावट की बात नहीं रहती। इतना सुख रहता है। तो अब बाप समझाते हैं – मामेकम् याद करने का पुरूषार्थ करो। यह याद करने की ही युद्ध है। बाप बच्चों को समझाते रहते हैं – मीठे बच्चे, अपने ऊपर अटेन्शन का पहरा देते रहो। माया कहाँ नाक-कान काट न जाये क्योंकि दुश्मन है ना। तुम बाप को याद करते हो और माया तूफान में उड़ा देती है इसलिए बाबा कहते हैं हर एक को सारे दिन का चार्ट लिखना चाहिए कि कितना बाप को याद किया? कहाँ मन भागा? डायरी में नोट करो, कितना समय बाप को याद किया? अपनी जांच करनी चाहिए तो माया भी देखेगी यह तो अच्छा बहादुर है, अपने पर अच्छा अटेन्शन रखते हैं। पूरा पहरा रखना है। अभी तुम बच्चों को बाप आकर परिचय देते हैं। कहते हैं भल घरबार सम्भालो सिर्फ बाप को याद करो। यह कोई उन संन्यासियों मुआफिक नहीं है। वह भीख पर चलते हैं फिर भी कर्म तो करना पड़ता है ना। तुम उनको भी कह सकते हो कि तुम हठयोगी हो, राजयोग सिखलाने वाला एक ही भगवान है। अभी तुम बच्चे संगम पर हो। इस संगमयुग को ही याद करना पड़े। हम अभी संगमयुग पर सर्वोत्तम देवता बनते हैं। हम उत्तम पुरूष अर्थात् पूज्य देवता थे, अब कनिष्ट बन पड़े हैं। कोई काम के नहीं रहे हैं। अब हम क्या बनते हैं, मनुष्य जिस समय बैरिस्टरी आदि पढ़ते हैं, उस समय मर्तबा नहीं मिलता। इम्तहान पास किया, मर्तबे की टोपी मिली। जाकर गवर्मेन्ट की सर्विस में लगेंगे। अभी तुम जानते हो हमको ऊंच ते ऊंच भगवान पढ़ाते हैं तो जरूर ऊंच ते ऊंच पद भी देंगे। यह एम ऑब्जेक्ट है। अब बाप कहते हैं मामेकम् याद करो, मैं जो हूँ, जैसा हूँ, सो समझा दिया है। आत्माओं का बाप मैं बिन्दी हूँ, मेरे में सारा ज्ञान है, तुमको भी पहले यह ज्ञान थोड़ेही था कि आत्मा बिन्दी है। उनमें सारा 84 जन्मों का पार्ट अविनाशी नूँधा हुआ है। क्राइस्ट पार्ट बजाकर गये हैं, फिर जरूर आयेंगे तो सही ना। क्राइस्ट के अभी सब जायेंगे। क्राइस्ट की आत्मा भी अभी तमोप्रधान होगी। जो भी ऊंच ते ऊंच धर्म स्थापक हैं, वह अब तमोप्रधान हैं। यह भी कहते हैं मैं बहुत जन्मों के अन्त में तमोप्रधान बना, अब फिर सतोप्रधान बनते हैं। तत् त्वम्।

तुम जानते हो – हम अभी ब्राह्मण बने हैं देवता बनने के लिए। विराट रूप के चित्र का अर्थ कोई नहीं जानते। अभी तुम बच्चे जानते हो आत्मा स्वीट होम में रहती है तो पवित्र है। यहाँ आने से पतित बनी है। तब कहते हैं – हे पतित-पावन आकर हमको पवित्र बनाओ तो हम अपने घर मुक्तिधाम में जायें। यह भी प्वाइंट धारण करने के लिए है। मनुष्य नहीं जानते मुक्ति-जीवनमुक्तिधाम किसको कहा जाता है। मुक्तिधाम को शान्तिधाम कहा जाता है। जीवन-मुक्तिधाम को सुखधाम कहा जाता है। यहाँ है दु:ख का बंधन। जीवनमुक्ति को सुख का संबंध कहेंगे। अब दु:ख का बंधन दूर हो जायेगा। हम पुरूषार्थ करते हैं ऊंच पद पाने के लिए। तो यह नशा होना चाहिए। हम अभी श्रीमत पर अपना राज्य-भाग्य स्थापन कर रहे हैं। जगत अम्बा नम्बरवन में जाती है। हम भी उनको फालो करेंगे। जो बच्चे अभी मात-पिता के दिल पर चढ़ते हैं वही भविष्य में तख्तनशीन बनेंगे। दिल पर वह चढ़ते जो दिन-रात सर्विस में बिजी रहते हैं। सबको पैगाम देना है कि बाप को याद करो। पैसा-कौड़ी कुछ भी लेने का नहीं है। वह समझते हैं यह राखी बांधने आती हैं, कुछ देना पड़ेगा। बोलो हमको और कुछ चाहिए नहीं सिर्फ 5 विकारों का दान दो। यह दान लेने लिए हम आये हैं इसलिए पवित्रता की राखी बांधते हैं। बाप को याद करो, पवित्र बनो तो यह (देवता) बनेंगे। बाकी हम पैसा कुछ भी नहीं ले सकते हैं। हम वह ब्राह्मण नहीं हैं। सिर्फ 5 विकारों का दान दो तो ग्रहण छूटें। अभी कोई कला नहीं रही है। सब पर ग्रहण लगा हुआ है। तुम ब्राह्मण हो ना। जहाँ भी जाओ – बोलो, दे दान तो छूटे ग्रहण। पवित्र बनो। विकार में कभी नहीं जाना। बाप को याद करेंगे तो विकर्म विनाश होंगे और तुम फूल बन जायेंगे। तुम ही फूल थे फिर कांटे बने हो। 84 जन्म लेते-लेते गिरते ही आये हो। अब वापिस जाना है। बाबा ने डायरेक्शन दिया है इन द्वारा। वह है ऊंच ते ऊंच भगवान। उनको शरीर नहीं है। अच्छा, ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को शरीर है? तुम कहेंगे – हाँ, सूक्ष्म शरीर है। परन्तु वह मनुष्यों की सृष्टि तो नहीं है। खेल सारा यहाँ है। सूक्ष्मवतन में नाटक कैसे चलेगा? वैसे मूलवतन में भी सूर्य-चांद ही नहीं तो नाटक भी काहे का होगा! यह बहुत बड़ा माण्डवा है। पुनर्जन्म भी यहाँ होता है। सूक्ष्मवतन में नहीं होता। अभी तुम्हारी बुद्धि में सारा बेहद का खेल है। अभी पता पड़ा है – हम जो देवी-देवता थे सो फिर कैसे वाम मार्ग में आते हैं। वाम मार्ग विकारी मार्ग को कहा जाता है। आधाकल्प हम पवित्र थे, हमारा ही हार और जीत का खेल है। भारत अविनाशी खण्ड है। यह कभी विनाश होता नहीं है। आदि सनातन देवी-देवता धर्म था तो और कोई धर्म नहीं था। तुम्हारी इन बातों को मानेंगे वह जिन्होंने कल्प पहले माना होगा। 5 हज़ार वर्ष से पुरानी चीज़ कोई होती नहीं। सतयुग में फिर तुम पहले जाकर अपने महल बनायेंगे। ऐसे नहीं कि सोनी-द्वारिका कोई समुद्र के नीचे है वह निकल आयेगी। दिखलाते हैं सागर से देवतायें रत्नों की थालियाँ भरकर देते थे। वास्तव में ज्ञान सागर बाप है जो तुम बच्चों को ज्ञान रत्न की थालियाँ भरकर दे रहे हैं। दिखाते हैं शंकर ने पार्वती को कथा सुनाई। ज्ञान रत्नों से झोली भरी। शंकर के लिए कहते – भांग-धतूरा पीता था, फिर उनके आगे जाकर कहते झोली भर दो, हमको धन दो। तो देखो शंकर की भी ग्लानि कर दी है। सबसे जास्ती ग्लानि करते हैं हमारी। यह भी खेल है जो फिर भी होगा। इस नाटक को कोई जानते नहीं। मैं आकर आदि से अन्त तक सारा राज़ समझाता हूँ। यह भी जानते हो ऊंचे ते ऊंच बाप है। विष्णु सो ब्रह्मा, ब्रह्मा सो विष्णु कैसे बनते हैं – यह कोई समझ न सके।

अभी तुम बच्चे पुरूषार्थ करते हो कि हम विष्णु कुल का बनें। विष्णुपुरी का मालिक बनने के लिए तुम ब्राह्मण बने हो। तुम्हारी दिल में है – हम ब्राह्मण अपने लिए सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी राजधानी स्थापन कर रहे हैं श्रीमत पर। इसमें लड़ाई आदि की कोई बात नहीं। देवताओं और असुरों की लड़ाई कभी होती नहीं। देवतायें हैं सतयुग में। वहाँ लड़ाई कैसे होगी। अभी तुम ब्राह्मण योगबल से विश्व के मालिक बनते हो। बाहुबल वाले विनाश को प्राप्त हो जायेंगे। तुम साइलेन्स बल से साइंस पर विजय पाते हो। अब तुमको आत्म-अभिमानी बनना है। हम आत्मा हैं, हमको जाना है अपने घर। आत्मायें तीखी हैं। अभी एरोप्लेन ऐसा निकाला है जो एक घण्टे में कहाँ से कहाँ चला जाता है। अब आत्मा तो उनसे भी तीखी है। चपटी में आत्मा कहाँ की कहाँ जाकर जन्म लेती है। कोई विलायत में भी जाकर जन्म लेते हैं। आत्मा सबसे तीखा रॉकेट है। इसमें मशीनरी आदि की कोई बात नहीं। शरीर छोड़ा और यह भागा। अब तुम बच्चों की बुद्धि में है हमको घर जाना है, पतित आत्मा तो जा न सके। तुम पावन बनकर ही जायेंगे बाकी तो सब सजायें खाकर जायेंगे। सजायें तो बहुत मिलती हैं। वहाँ तो गर्भ महल में आराम से रहते हैं। बच्चों ने साक्षात्कार किया है। कृष्ण का जन्म कैसे होता है, कोई गंद की बात नहीं। एकदम जैसे रोशनी हो जाती है। अभी तुम बैकुण्ठ के मालिक बनते हो तो ऐसा पुरूषार्थ करना चाहिए। शुद्ध पवित्र खान-पान होना चाहिए। दाल भात सबसे अच्छा है। ऋषिकेश में संन्यासी एक खिड़की से लेकर चले जाते, हाँ कोई कैसे, कोई कैसे होते हैं। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपने ऊपर अटेन्शन का पूरा-पूरा पहरा देना है। माया से अपनी सम्भाल करनी है। याद का सच्चा-सच्चा चार्ट रखना है।

2) मात-पिता को फालो कर दिलतख्तनशीन बनना है। दिन-रात सर्विस पर तत्पर रहना है। सबको पैगाम देना है कि बाप को याद करो। 5 विकारों का दान दो तो ग्रहण छूटे।

वरदान:- बाप की याद द्वारा असन्तोष की परिस्थितियों में, सदा सुख व सन्तोष की अनुभूति करने वाले महावीर भव
सदा बाप की याद में रहने वाले हर परिस्थिति में सदा सन्तुष्ट रहते हैं क्योंकि नॉलेज की शक्ति के आधार पर पहाड़ मुआफिक परिस्थिति भी राई अनुभव होती है, राई अर्थात् कुछ नहीं। चाहे परिस्थिति असन्तोष की हो, दु:ख की घटना हो लेकिन दु:ख की परिस्थिति में सुख की स्थिति रहे तब कहेंगे महावीर। कुछ भी हो जाए, नथिंगन्यु के साथ-साथ बाप की स्मृति से सदा एकरस स्थिति रह सकती है, फिर दु:ख अशान्ति की लहर भी नहीं आयेगी।
स्लोगन:- अपना दैवी स्वरूप सदा स्मृति में रहे तो कोई की भी व्यर्थ नज़र नहीं जा सकती।

TODAY MURLI 11 MAY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 11 May 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 10 May 2019 :- Click Here

11/05/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you must never become an obstacle. If there are any defects in you, then remove them. This is the time to become true diamonds.
Question: By having which defect does the value of a soul begin to decrease?
Answer: The first defect that comes is impurity. When a soul is pure, his grade is very high, for the soul is an invaluable jewel. That soul is worth bowing down to. The slightest defect of impurity finishes the value of a soul. You now have to become ever-pure diamonds like the Father. Baba has come to make you as pure as He is. Baba’s remembrance will harass only the pure children. They will have unbroken love for the Father. They will never cause any sorrow for anyone. They will be very sweet.

Om shanti. Double Om shanti can also be said. You children know and BapDada also knows the meaning of Om shanti: I, the soul, am an embodiment of peace and I am truly a child of the Father who is the Ocean of Peace, the Ocean of Happiness and the Ocean of Purity. First of all, He is the Ocean of Purity. People experience difficulty in becoming pure. There are many grades in becoming pure. Each child can understand: These are the grades that are increasing. We have not yet become perfect. Each one definitely has one type of defect or another in purity and yoga. By becoming body conscious, souls have become defective: some have more defects and some have fewer defects. Diamonds are of many different varieties. They are examined with a magnifying glass. Just as you understand about the soul of the Father, so, you also have to understand about the children, the souls. These are jewels. All jewels are worth bowing down to. Pearls, emeralds and other gems are also all worthy of being bowed down to. This is why the word, ‘variety is used. It is numberwise according to the effort you make. You understand that the unlimited Father is the Jewel Merchant of the imperishable jewels of knowledge. He is the only One. He would definitely be called the Jewel Merchant. He gives you jewels of knowledge. His chariot too is that of a jeweller. He also knows the value of jewels. A jeweller has to examine a jewel very carefully with a magnifying glass to see how many defects it has, what type of jewel it is and to what extent it is serviceable. One has a desire to look at jewels. If a jewel is good, people will look at it with a lot of love. “This is very good.” It should be kept in a gold box. Topaz (semi-precious stone) etc. wouldn’t be placed in a gold box. It is as though you too become unlimited jewels here. Each one of you know in your heart what type of jewel you are. “Do I have any defects in me?” Just as you would look at jewellery very carefully, so each one has to be examined. You are living jewels. Therefore, each one of you has to examine yourself: To what extent have I become like a sapphire or an emerald? Just as with flowers, some are constant roses, some are just ordinary roses and others are like some other flowers, so you too are all numberwise. Each one of you can know yourself very well. You have to examine yourself: “What did I do throughout the day?” How much did I remember Baba? Baba has said: While living at home with your family, you have to remember the Father. Baba even told Narad: Look at your face in the mirror. That is an example. All of you children have to examine yourselves very well. You have to check: To what extent do I have love for the Father through whom I become like a diamond? Does my attitude get pulled in any other direction? To what extent do I have a divine nature? People’s natures troubles them a lot. Each one of you has received the third eye. You have to check yourself with that. To what extent do I stay in remembrance of the Father? To what extent does my remembrance reach the Father? In having remembrance of Him, you should have goosepimples. However, the Father Himself says: The obstacles of Maya are such that they don’t allow you to be happy. You children know that you are all effort-makers at present. The results will be announced at the end. Each of you has to check yourself. You can remove the flaws etc. now. You have to become a completely pure diamond. If there is the slightest defect, you can understand that your value will be reduced. You are a jewel, are you not? The Father explains: Children, you have to become ever-pure, valuable diamonds. Baba explains to you in many different ways in order to inspire you to make effort. (Today, at the time of yoga, Baba got off the gaddi and walked around the class having a personal meeting of the eyes with each child.) Why did Baba get up today? To see which children are serviceable. Because some are sitting in one place and others are sitting in another place, Baba got up and looked at each one individually: What virtues does this one have? How much love does this one have? All of you children are sitting here face to face. So, all of you are very much loved. However, it is definite that you would be loved, numberwise, according to your efforts. The Father knows what defect each one has. The one whose body the Father has entered also checks himself. Bap and Dada are both together. Therefore, as much happiness as children give to others, to that extent they do not cause sorrow for anyone; such children cannot remain hidden. Roses and jasmine flowers cannot remain hidden. The Father now explains everything to you children and then says: Constantly remember Me alone. Then the alloy in you will be removed. At the time of remembrance, you also have to check everything you have done throughout the day. What defects do I have that I am unable to climb onto Baba’s heart throne? Those who are in the heart are on the throne. The Father gets up and looks at you children. Which children are going to be seated on My throne? When the time comes close, children will quickly know to what extent they will pass. Those who are going to fail know in advance that they will have fewer marks. You too can understand what marks you are going to receive. We are students. Whose students? God’s. You know that you are studying with this Dada. So, you should have so much happiness. Baba is giving us so much love! He is so sweet! He doesn’t give you any difficulty. He simply says: Remember this cycle. The study is not too much. Your aim and objective is just in front of you. That is what you have to become. You have the aim and objective of divine virtues. You imbibe divine virtues and become as pure as them. Only then are you threaded in the rosary. Unlimited Baba is teaching us. You have that happiness, do you not? Baba would surely make you as pure and knowledge-full as He is. Purity, peace and happiness are all included in that. No one has as yet become complete. You will become that at the end. You have to make effort for that. Everyone loves the Father. As soon as you say “Baba” your heart blossoms. You receive such a huge inheritance from the Father. Your heart should not be attached to anyone other than the Father. Let remembrance of the Father harass you. You have to remember the Father with a lot of love: “Baba, Baba, Baba!” The son of a king would have the intoxication of the kingdom. There is no respect left for kings now. The British Governmentalso gave a lot of respect to them when it was their kingdom. Everyone except the Viceroy used to salute them. Everyone else used to bow down to the kings. Look what their condition has now become! You also know that they are not going to come and claim a royal status. Baba has explained: I am the Lord of the Poor. The poor instantly recognise the Father. They feel: All of this belongs to that One. We will do everything according to His shrimat. Those people have intoxication of their wealth. This is why they cannot do this. Therefore, the Father says: I am the Lord of the Poor. However, you also have to uplift eminent people because when they come, the poor will instantly also come. When they see such eminent people coming here, they would also come. However, poor people are very much afraid. One day they too will come to you. That day will also come. Then, when you explain to them, they will be very happy; they will cling to you. You will have a special time fixed for them. Children have the desire in their hearts to uplift everyone. They too study and become senior officers. You are on a Godly mission; you have to uplift everyone. It is remembered that God ate the berries of the native. One’s conscience also says: Donations are always given to the poor, not to the wealthy. As you make further progress, you will have to do all of this. You need the power of yoga in this, through which they can be attracted. The power of yoga is lacking because there is body consciousness. Each one of you can ask your heart: How much do I remember the Father? Do I become trapped in anything? I should have such a stage that I am not pulled if I see anyone. Baba’s order is: Do not become body conscious. Consider everyone to be your brother. You souls know that you are brothers. You have to renounce all religions of the body. If you remember anything else at the end, there will be punishment. You have to make your stage that strong and also do service. Internally, you have to understand that only when you create such a stage can you receive a status. The Father explains to you very well. A lot of service still has to be done. If you have power, they will be pulled. There is the rust of many births. You Brahmins should have these thoughts. All souls have to be purified. People don’t know this. You know this, but that too, is numberwise, according to your efforts. The Father continues to explain everything to you. You have to check yourselves. Just as Baba is in the unlimited, so you children also have to think about the unlimited. The Father has so much love for you souls. Why did He not have love for so many days? Because you were defective. Why would He love impure souls? The Father has now come to make everyone pure from impure. So, you definitely have to become lovely. Baba is lovely. He attracts you children a great deal. Day by day, as you become pure, there will be a greater attraction. Baba will attract you a lot. He will attract you so much that you won’t even be able to stay here. Your stage will become like that, numberwise, according to your efforts. If you continue to look at the Father here, you will then understand: OK, I am now going to go and meet Baba. You would never want to be separated from such a Baba. The Father is attracted by the children: It is a wonder of this child. She does very good service. Yes, there are some defects too, but, nevertheless, she does very good service at a time of need according to her stage. She doesn’t seem like someone who would cause sorrow for anyone. Yes, if there is illness etc., that is the suffering of your own karma. You too can understand that, while you are here, something or other will continue to happen. Although this is the chariot, the suffering of karma has to be endured till the end. It isn’t that I would give him special blessings. He too has to make his own effort. Yes, he has given his chariot and so I will give him a prize. Look how all the mothers in bondage come here. They liberate themselves tactfully and come here. They have so much love. No one else has as much love. Many have no love at all. No one else’s love can be compared to the love of those in bondage. Do not think that their yoga is any less either. They cry a lot in remembrance: Baba, O Baba, when will I meet You? Baba, the One who is making me into a master of the world, how can I meet You? There are such women in bondage who continue to shed tears of love. They are not tears of sorrow. Those tears become pearls of love. So, the yoga of those in bondage is not a small thing. They remain very desperate in remembrance: O Baba, when will I meet You Baba, the One who removes all sorrow? The Father says: For as long as you stay in remembrance and do service, you will receive power. Also, even if some are in bondage and are unable to do service, they definitely receive a lot of yoga power through their remembrance. Everything is merged in remembrance. They remain desperate. Baba, when will I have a chance to meet You? They stay in remembrance so much. As you make further progress, day by day, you will be pulled very strongly. Even while bathing and doing everything, you will stay in remembrance. The poor helpless ones continue to ask: When will the day come when these bondages end? Baba, my children are distressing me. What can I do? Can children be beaten? Will there be sin accumulated because of that? The Father says: The children of today are such, don’t even ask! When someone is made to suffer by her husband, she feels inside: When will I become free from this bondage that I can meet Baba? Baba, I have very severe bondages. What can I do? When will I become free from the bondage of my husband? She simply continues to say, “Baba, Baba!” Baba gets pulled. The poor mothers tolerate a lot. Baba gives patience to you children: Children, continue to remember the Father and all of those bondages will end. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Check: do I have any defects in me? To what extent does my remembrance reach the Father? Is my nature divine? Is my attitude wandering anywhere else?
  2. Become so lovely that the Father is pulled by you. Give everyone happiness. Remember the Father with a lot of love.
Blessing: May you be truly loving and instead of allowing pillars of waste thoughts to support you, increase your experience of all relationships.
Maya puts up many royal pillars to strengthen your weak thoughts. She repeatedly brings the thoughts, “This happens all the time…, even the seniors do this…, no one has yet become complete…, there will definitely be some weakness remaining…” These pillars of waste thoughts make the weaknesses even stronger. Now, instead of taking support from such pillars, increase your experience of all relationships. Experience the company in the corporeal form and be truly loving.
Slogan: Contentment is a very great virtue. Those who remain constantly content are loved by God, loved by people and loved by the self.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 11 MAY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 May 2019

To Read Murli 10 May 2019 :- Click Here
11-05-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हें कभी भी विघ्न रूप नहीं बनना है, अन्दर में कोई कमी हो तो उसे निकाल दो, यही समय है सच्चा हीरा बनने का”
प्रश्नः- किस बात की डिफेक्ट आते ही आत्मा की वैल्यु कम होने लगती है?
उत्तर:- पहला डिफेक्ट आता है अपवित्रता का। जब आत्मा पवित्र है तो उसकी ग्रेड बहुत ऊंची है। वह अमूल्य रत्न है, नमस्ते लायक है। इमप्योरिटी का थोड़ा भी डिफेक्ट वैल्यु को खत्म कर देता है। अब तुम्हें बाप समान एवर प्योर हीरा बनना है। बाबा आया है तुम्हें आप समान पवित्र बनाने। पवित्र बच्चों को ही एक बाप की याद सतायेगी। बाप से अटूट प्यार होगा। कभी किसी को दु:ख नहीं देंगे। बहुत मीठे होंगे।

ओम् शान्ति। डबल ओम् शान्ति भी कह सकते हैं। बच्चे भी जानते हैं और बापदादा भी जानते हैं। ओम् शान्ति का अर्थ है मैं आत्मा शान्त स्वरूप हूँ। और बरोबर शान्ति के सागर, सुख के सागर, पवित्रता के सागर बाप की सन्तान हूँ। पहले-पहले है पवित्रता का सागर। पवित्र बनने में ही मनुष्यों को तकलीफ होती है। और पवित्र बनने में बहुत ग्रेड्स हैं। हर एक बच्चा समझ सकता है, यह भी ग्रेड्स बढ़ती जाती हैं। अभी हम सम्पूर्ण बने नहीं हैं। कहाँ न कहाँ कोई में किस प्रकार की, कोई में किस प्रकार की डिफेक्ट जरूर हैं – पवित्रता में और योग में। देह-अभिमान में आने से ही डिफेक्टेड होते हैं। कोई में जास्ती, कोई में कम डिफेक्ट होते हैं। किस्म-किस्म के हीरे होते हैं। उनको फिर मैग्नीफाय ग्लास से देखा जाता है। तो जैसे बाप की आत्मा को समझा जाता है, वैसे आत्माओं (बच्चों) को भी समझना होता है। यह रत्न हैं ना। रत्न भी सब नमस्ते लायक हैं। मोती, माणिक, पुखराज आदि सब नमस्ते लायक हैं इसलिए सब वैराइटी डाले जाते हैं। नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार तो हैं ना। समझते हैं बेहद का बाप है अविनाशी ज्ञान रत्नों का जौहरी, वह एक ही है। जौहरी भी उनको जरूर कहेंगे। ज्ञान रत्न देते हैं ना और फिर रथ भी जौहरी, वह भी रत्नों की वैल्यु को जानते हैं। जवाहरात को बहुत अच्छी रीति मैग्नीफाय ग्लास से देखना होता है – इसमें कहाँ तक डिफेक्ट है! यह कौन-सा रत्न है? कहाँ तक सर्विसएबुल है? दिल होती है रत्नों को देखने की। अच्छा रत्न होगा तो उसको बहुत प्यार से देखेंगे। यह बड़ा अच्छा है। इसको तो सोने की डिब्बी में रखना चाहिए। पुखराज आदि को सोने की डिब्बी में नहीं रखा जाता है। यहाँ भी जैसे बेहद के रत्न बनते हैं। हर एक अपने दिल को जानते हैं – मैं किस प्रकार का रत्न हूँ? हमारे में कोई डिफेक्ट तो नहीं है? जैसे जवाहरात को अच्छी रीति देखा जाता है, वैसे हर एक को देखना पड़ता है। तुम तो हो ही चैतन्य रत्न। तो हर एक को अपने को देखना है – हम कहाँ तक सब्ज परी, नीलम परी बने हैं। जैसे फूलों में भी कोई सदा गुलाब, कोई गुलाब, कोई कैसे होते हैं। तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं। हर एक अपने को अच्छी रीति जान सकते हैं। अपने को देखो सारा दिन क्या किया? बाबा को कितना याद किया? यह भी बाबा ने कह दिया है कि गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए बाप को याद करना है। बाबा ने नारद को भी कहा – अपनी शक्ल को देखो। यह भी एक दृष्टान्त है। तुम जो बच्चे हो, एक-एक को अपने को अच्छी रीति देखना है। जांच करनी है कि जिस बाप द्वारा हम हीरे बनते हैं उनके साथ हमारा लव कहाँ तक है? और कोई तरफ वृत्ति तो नहीं जाती है? कहाँ तक मेरा दैवी स्वभाव है? स्वभाव भी मनुष्य को बहुत सताता है। हर एक को तीसरा नेत्र मिला है। उनसे अपनी जांच करनी है। कहाँ तक मैं बाप की याद में रहता हूँ? कहाँ तक मेरी याद बाप को पहुँचती है? उनकी याद में रह रोमांच एकदम खड़े हो जाने चाहिए। परन्तु बाप खुद कहते हैं माया के विघ्न ऐसे हैं जो खुशी में आने नहीं देते हैं। बच्चे जानते हैं अभी हम सब पुरूषार्थी हैं। रिजल्ट तो पिछाड़ी में निकलनी है। अपनी जांच करनी है। फ्लो आदि अभी तुम निकाल सकते हो। एकदम प्योर डायमन्ड बनना है। अगर थोड़ा भी डिफेक्ट होगा तो समझ जायेंगे, हमारी वैल्यु भी कम होगी। रत्न हैं ना। बाप तो समझाते हैं – बच्चे एवर प्योर वैल्युबुल हीरा बनना चाहिए। पुरूषार्थ कराने लिए भिन्न-भिन्न प्रकार से बाप समझाते हैं।

(आज योग के समय बीच में बापदादा संदली से उठकर सभा के बीच में चक्र लगाए एक-एक बच्चे से नैन मुलाकात कर रहे थे) बाबा आज क्यों उठे? देखने लिए कि कौन-कौन सर्विसएबुल बच्चा है? क्योंकि कहाँ कोई, कहाँ कोई बैठे रहते हैं। तो बाबा ने उठकर एक-एक को देखा – इनमें क्या गुण हैं? इनका कितना लव है? सब बच्चे सम्मुख बैठे हुए हैं, तो सभी बहुत प्यारे लगते हैं। परन्तु यह तो जरूर है नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार ही प्यारे लगेंगे। बाप को तो मालूम है – क्या-क्या किसमें डिफेक्ट है? क्योंकि जिस तन में बाप ने प्रवेश किया है, वह भी अपनी जांच करते हैं। यह दोनों बापदादा इकट्ठे हैं ना। तो जितना-जितना जो औरों को सुख देते हैं, कोई को दु:ख नहीं देते हैं, वह छिपे नहीं रह सकते हैं। गुलाब, मोतिया कब छिपे नहीं रह सकेंगे। बाप सब कुछ बच्चों को समझाए फिर बच्चों को कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम्हारी खाद निकल जाये। याद करने समय सारे दिन में जो कुछ किया है, वह भी देखना है। मेरे में क्या अवगुण हैं, जो बाबा की दिल पर इतना नहीं चढ़ सकते? दिल पर सो तख्त पर। तो बाप उठकर बच्चों को देखते हैं, हमारे तख्त के वासी कौन-कौन बनने वाले हैं? जब समय नज़दीक आता है, तो बच्चों को झट मालूम पड़ जाता है – हम कहाँ तक पास होंगे? नापास होने वाले को पहले से ही मालूम पड़ जाता है कि हमारे मार्क्स कम होंगे। तुम भी समझते हो हमको मार्क्स तो मिलने हैं। हम स्टूडेन्ट हैं, किसके? भगवान के। जानते हैं वह इस दादा द्वारा पढ़ाते हैं। तो कितनी खुशी होनी चाहिए। बाबा हमको कितना प्यार करते हैं, कितना मीठा है, तकलीफ तो कोई देते नहीं। सिर्फ कहते हैं इस चक्र को याद करो। पढ़ाई कोई जास्ती नहीं है। एम ऑब्जेक्ट सामने खड़ा है। ऐसा हमें बनना चाहिए। दैवीगुणों की एम ऑब्जेक्ट है। तुम दैवीगुण धारण कर इन जैसा पवित्र बनते हो तब ही माला में पिरोये जाते हो। बेहद का बाबा हमको पढ़ाते हैं। खुशी होती है ना। बाबा जरूर आपसमान प्योर नॉलेजफुल बनायेंगे। इसमें पवित्रता, सुख, शान्ति सब आ जाती है। अभी कोई भी परिपूर्ण नहीं बना है। अन्त में बनना है। उसके लिए पुरूषार्थ करना है। बाप को तो सभी प्यार करते हैं। ‘बाबा’ कहकर तो दिल ही खिल जाता है। बाप से वर्सा कितना भारी मिलता है। सिवाए बाप के और कहाँ भी दिल नहीं जायेगी। बाप की याद ही बहुत सतानी चाहिए। बाबा, बाबा, बाबा, बहुत प्यार से बाप को याद करना होता है। राजा का बच्चा होगा तो उनको राजाई का नशा होगा ना। अभी तो राजाओं का मान नहीं रहा है। जब ब्रिटिश गवर्मेन्ट थी तो उन्हों का बहुत मान था। सब उनको सलाम भरते थे सिवाए वाइसराय के। बाकी सब नमन करते थे राजाओं को। अभी उन्हों की गति क्या हो गई है। यह भी तुम जानते हो कि यह कोई आकर राजाई पद नहीं लेंगे।

बाबा ने समझाया है मैं गरीब निवाज़ हूँ। गरीब झट बाप को जान लेते हैं। समझते हैं यह सब कुछ उनका है। उनकी श्रीमत पर ही हम सब कुछ करेंगे। उन्हों को तो अपना धन का नशा रहता है इसलिए वह ऐसे कर न सके इसलिए बाप कहते हैं मैं हूँ गरीब निवाज़। बाकी हाँ, बड़ों को उठाया जाता है, क्योंकि बड़ों के कारण फिर गरीब भी झट आ जायेंगे। देखेंगे इतने बड़े-बड़े लोग भी यहाँ जाते हैं, तो वह भी आ जायेंगे। परन्तु गरीब बिचारे बहुत डरते हैं। एक दिन वह भी तुम्हारे पास आयेंगे। वह दिन भी आयेगा। फिर उन्हों को जब तुम समझायेंगे तो बड़े खुश होंगे। एकदम चटक जायेंगे। उन्हों के लिए भी तुम खास टाइम रखेंगे। बच्चों के दिल में आता है हमको तो सभी का उद्धार करना है। वह भी पढ़कर बड़े ऑफीसर्स आदि बन जाते हैं ना। तुम हो ईश्वरीय मिशन। तुमको सबका उद्धार करना है। गायन भी है ना – भीलनी के बेर खाये। विवेक भी कहता है दान हमेशा गरीबों को करना है, साहूकारों को नहीं। तुमको आगे चलकर यह सब कुछ करना है। इसमें योग का बल चाहिए, जिससे वह कशिश में आ जायें। योगबल कम है क्योंकि देह-अभिमान है। हर एक अपने दिल से पूछे – हमको कहाँ तक बाप की याद है? कहाँ हम फँसते तो नहीं हैं? ऐसी अवस्था चाहिए, जो किसको भी देखने से चलायमानी न हो। बाबा का फ़रमान है देह-अभिमानी मत बनो। सबको अपना भाई समझो। आत्मा जानती है हम भाई-भाई हैं। देह के सब धर्म छोड़ने हैं। अन्त में अगर कुछ भी याद पड़ा तो दण्ड पड़ जायेगा। इतनी अपनी अवस्था मजबूत बनानी है और सर्विस भी करनी है। अन्दर में समझना है – ऐसी अवस्था जब बनायें तब यह पद मिल सकता है। बाप तो अच्छी रीति समझाते हैं, बहुत सर्विस रही हुई है। तुम्हारे में भी बल होगा तो उनको कशिश होगी। अनेक जन्मों की कट लगी हुई है, यह ख्यालात तुम ब्राह्मणों को रखने हैं। सभी आत्माओं को पावन बनाना है। मनुष्य तो नहीं जानते, यह तुम जानते हो सो भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। बाप सब बातें समझाते रहते हैं, अपनी जांच करनी है। जैसे बाबा बेहद में खड़े हैं, बच्चों को बेहद का ख्याल करना है। बाप का आत्माओं में कितना लव है। इतना दिन लव क्यों नहीं था? क्योंकि डिफेक्टेड थे। पतित आत्माओं को क्या लव करेंगे। अभी तो बाप सबको पतित से पावन बनाने आये हैं। तो लवली जरूर बनना पड़ता है। बाबा है ही लवली, बच्चों को बहुत कशिश करते हैं। दिन-प्रतिदिन जितना पवित्र बनते जायेंगे, उतना तुमको बहुत कशिश होगी। बाबा में बहुत कशिश होगी। इतना खीचेंगे जो तुम ठहर नहीं सकेंगे। तुम्हारी अवस्था भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार ऐसी आ जायेगी। यहाँ बाप को देखते रहेंगे तो बस समझेंगे अभी जाकर बाबा से मिलें। ऐसे बाबा से फिर कभी बिछड़ेंगे नहीं। बाप को फिर कशिश होती है बच्चों की। इस बच्चे की तो कमाल है। बड़ी अच्छी सर्विस करते हैं। हाँ, कुछ डिफेक्ट भी हैं फिर भी अवस्था अनुसार टाइम पर बड़ी अच्छी सर्विस करते हैं। कोई को दु:ख देने जैसी आसामी नहीं देखने में आती है। बीमारी आदि होती है तो वह है कर्मभोग। खुद भी समझते हैं जब तक यहाँ हैं, कुछ न कुछ होता रहेगा। भल यह रथ है फिर भी कर्मभोग तो पिछाड़ी तक भोगना ही है। ऐसे नहीं, मैं इन पर आशीर्वाद करूँ। इनको भी अपना पुरूषार्थ करना है। हाँ, रथ दिया है, उसके लिए कुछ इज़ाफा दे देंगे। बहुत बांधेलियां कैसे-कैसे आती हैं। कैसे युक्ति से छूटकर आती हैं, उन्हों का जितना लव रहता है उतना और कोई का नहीं। बहुतों का लव बिल्कुल नहीं है। उन बांधेलियों के लव से तो किसकी भी भेंट नहीं कर सकते। बांधेलियों का योग भी कोई कम मत समझना। बहुत याद में रोती हैं। बाबा, ओ बाबा, कब हम आपसे मिलेंगे? बाबा, विश्व के मालिक बनाने वाले बाबा, आपसे हम कैसे मिलेंगे? ऐसी-ऐसी बांधेलियां हैं जो प्रेम के आंसू बहाती रहती हैं। वह उनके दु:ख के आंसू नहीं हैं, वह आंसू प्यार के मोती बन जाते हैं। तो उन बांधेलियों का योग कोई कम थोड़ेही है। याद में बहुत तड़फती हैं। ओ बाबा हम आपसे कब मिलेंगे? सब दु:ख मिटाने वाले बाबा! बाप कहते हैं जितना समय तुम याद में रहेंगी, सर्विस भी करेंगी, भल कोई बंधन में रहती हैं, खुद सर्विस नहीं कर सकती परन्तु याद का भी उन्हों को बहुत बल मिलता है। याद में ही सब कुछ समाया हुआ है, तड़फती रहती हैं। बाबा कब मौका मिलेगा जो हम आपसे मिलेंगी? कितना याद में रहती हैं। आगे चल दिन-प्रतिदिन तुमको जोर से खींच होती रहेगी। स्नान करते, कार्य करते याद में ही रहेंगे। बाबा, कभी वह दिन होगा जो यह बन्धन खलास होंगे? बिचारी पूछती रहती हैं – बाबा, यह हमको बहुत तंग करते हैं, क्या करें? बच्चों की पिटाई कर सकते हैं? पाप तो नहीं होगा? बाप कहते हैं आजकल के बच्चे तो ऐसे हैं जो बात मत पूछो! किसको पति से दु:ख होता है तो अन्दर में सोचती हैं – कब यह बन्धन छूटे तो हम बाबा से मिलें। बाबा, बहुत कड़ा बंधन है, क्या करें? पति का बंधन कब छूटेगा? बस, बाबा-बाबा करती रहती हैं। उनकी कशिश तो आती है ना। अबलायें बहुत सहन करती हैं। बाबा बच्चों को धीरज देते हैं – बच्चे, तुम बाप को याद करते रहो तो यह सब बंधन खत्म हो जायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपनी जांच करनी है कि हमारे में कोई अवगुण तो नहीं है? कहाँ तक हमारी याद बाप तक पहुँचती है? हमारा स्वभाव दैवी स्वभाव है? वृत्ति और तरफ भटकती तो नहीं है?

2) ऐसा लवली बनना है जो बाप को कशिश होती रहे। सबको सुख देना है। प्यार से बाप को याद करना है।

वरदान:- व्यर्थ संकल्प रूपी पिल्लर्स को आधार बनाने के बजाए सर्व संबंध के अनुभव को बढ़ाने वाले सच्चे स्नेही भव
माया कमजोर संकल्प को मजबूत बनाने के लिए बहुत रॉयल पिल्लर्स लगाती है, बार-बार यही संकल्प देती है कि ऐसा तो होता ही है, बड़े-बड़े भी ऐसा करते हैं, अभी सम्पूर्ण तो हुए नहीं हैं, जरूर कोई न कोई कमजोरी तो रहेगी ही…यह व्यर्थ संकल्प रूपी पिल्लर्स कमजोरी को और मजबूत कर देते हैं। अब ऐसे पिल्लर्स का आधार लेने के बजाए सर्व संबंधों के अनुभव को बढ़ाओ। साकार रूप में साथ का अनुभव करते सच्चे स्नेही बनो।
स्लोगन:- सन्तुष्टता सबसे बड़ा गुण है, जो सदा सन्तुष्ट रहते हैं वही प्रभु प्रिय, लोक प्रिय व स्वयं प्रिय बनते हैं।
Font Resize