11 december ki murli

TODAY MURLI 11 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 11 December 2020

11/12/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, Madhuban is the home of the Father, the Holiest of the Holy. You mustn’t bring anyone impure here.
Question: What are the signs of those whose intellects have firm faith in this Godly mission?
Answer: 1. They are very patient when dealing with praise and defamation. 2. They never get angry. 3.They do not look at anyone with body-conscious vision. 4. They see others as souls and speak to others while considering themselves to be souls. 5. While living together, husband and wife remain like lotus flowers. 6. They never have any type of desire.
Song: Why would the moths not burn (sacrifice themselves)?

Om shanti. The spiritual Father explains to the spiritual children, that is, God teaches spiritual students. The students who study in those schools are not called spiritual students; they belong to the vicious community. Previously, you too were devilish, that is, you belonged to Ravan’s community. You are now making effort to conquer Ravan, the five vices, in order to go to the kingdom of Rama. You have to explain to those who don’t have this knowledge that they are in the kingdom of Ravan. They don’t understand this. When you tell your friends and relatives etc. that you are studying with the unlimited Father, it doesn’t mean that they have that faith. They won’t have that faith no matter how much you say that the Father, or even God, speaks. New ones are not allowed to come here. No one can come here without having a letter or asking permission. However, in some cases, they do come. That too is breaking the law. You have to write everyone’s news, together with their names etc., and ask permission to send that one. Then, Baba would reply: You may send him. If that person is a student of the devilish impure world, the Father would explain that those studies are taught by vicious, impure ones, whereas this study is taught by God. Through that study you only receive a status worth a few pennies. Although someone may pass a very important exam, for how long would he be able to earn an income? Destruction is just ahead. Natural calamities will also come. You understand this. Make those who don’t understand sit outside in the visiting room and explain to them. This is a Godly study. Here, only those whose intellects have faith will be victorious, that is, they will rule the world. Those who belong to Ravan’s community do not know this. Great caution is required for this. No one is allowed to come here without permission. This is not a tourist place. In a short while the laws will become very strict because this is the holiest of holy places. Shiv Baba is also called Indra. This is the Court of Indra. People wear a ring of nine jewels. There is an emerald (panna) in it, as well as a topaz (manek). All of these names are also given to angels. You souls are angels who fly. This is your description. However, those people do not understand anything about these matters. The rings that they wear also have certain other jewels among them. Some cost a thousand rupees whereas others cost 10 to 20 rupees. You children are also numberwise. Some study and become masters. Others study and become maids or servants. A kingdom is being established. Therefore, the Father sits here and teaches you. He is also called Indra (God of Rain). This is the rain of knowledge. No one but the Father can give you knowledge. This is your aim and objective. If you had the faith that God is teaching this study, you would never leave it. The arrow will never strike those who have stone intellects. They come and then, while moving along, they fall. The five vices have been your enemies for half the cycle. They take you into body consciousness and slap you. You then become those who are amazed by the knowledge, who listen to the knowledge, who speak about it and then run away. Maya is very powerful. She knocks you down with just one slap. You may think that you will never fall, but nevertheless Maya slaps you. Both men and women here remain pure. No one but God can make them this. This is the Godly mission. The Father is also called the Boatman and you are the boats. The Boatman comes to take everyone’s boat across. It is said that the boat of truth will rock, but it will not sink. There are so many sects and cults. It is as though there is a battle going on between knowledge and devotion. Sometimes, devotion is victorious, but there will ultimately be victory for knowledge. Look how great the warriors on the path of devotion are! There are also great warriors on the path of knowledge who have been named Arjuna, Bhima etc. They have sat and written all of those stories. That praise belongs to you. You are now playing out your parts of heroes and heroines. It is at this time that the war takes place. Among you too, there are many who don’t understand these aspects at all. The arrow will only strike those who are very good. Those who are third-class will not be able to sit here. Day by day, the laws will become much stricter. It is unlawful for those who have stone intellects and are unable to understand anything to come and sit here. This hall is the holiest of holy places. The Pope is said to be holy. This Father is the Holiest of the Holy. The Father says: I have to benefit everyone. Everything is going to be destroyed. Not everyone is able to understand these things. Although they may listen to it, it goes in one ear and out the other. They neither imbibe anything themselves nor inspire others to do so. There are many such deaf and dumb people. The Father says: Hear no evil, see no evil… They have portrayed this with a picture of monkeys. However, this applies to human beings. At this time, human beings are worse than monkeys. There is a story about Narad. He was told: Look at your own face and check that you don’t have the five vices in you. Just as you have visions, so they too have visions of Hanuman. The Father says: This happens every cycle. None of these things will exist in the golden age; this old world will finish. Those whose intellects have very firm faith will understand that they ruled that kingdom in the previous cycle too. The Father says: Children, now imbibe divine virtues. Do not do anything unlawful. Have patience in response to praise and defamation. Let there not be any anger. You are such elevated students! God, the Father, is teaching you. He is teaching you directly. Nevertheless, so many children forget this because He is in an ordinary body. The Father says: You won’t be able to be uplifted so much by looking at the bodily being. Look at the soul. The soul resides in the centre of the forehead. The soul listens to this and nods in agreement. Always talk to souls. You souls are sitting on the thrones of your bodies. You were tamopradhan and now have to become satopradhan. When you consider yourselves to be souls and remember the Father, the consciousness of your bodies will be broken. There has been body consciousness for half the cycle. At this time, all are body conscious. The Father says: Now become soul conscious! It is souls that imbibe everything. It is souls that eat and drink. The Father is called Abhogta (the One beyond the effect of experiencing anything). He is the Incorporeal. It is bodily beings who do everything. He doesn’t eat or drink anything; He is Abhogta. Those people then copy this. They cheat human beings so much! You have all the knowledge in your intellects. Those who understood this in the previous cycle will understand it now. The Father says: I come and teach you every cycle and observe everything as the detached Observer. You will study everything that you studied previously, numberwise, according to the efforts you make. It does take time! They say: The iron age still has 40,000 years left. This means that they are in extreme darkness. It is called the darkness of ignorance. There is the difference of day and night between the path of devotion and the path of knowledge. This too is a matter that has to be understood. You children have to remain immersed in great happiness. You have everything; you don’t have any desires. You know that all your desires are being fulfilled, exactly as they were in the previous cycle, and this is why you remain completely satisfied. Those who have no knowledge won’t be satisfied. It is said: There is no nourishment like happiness. You receive a kingdom for birth after birth. Those who are to become maids and servants will not have as much happiness. You have to become totally brave warriors. Maya should not be able to shake you. The Father says: You have to remain very cautious about your eyes; let there not be any criminal vision. Sometimes, they make mischief when they see a woman. Oh! You are brothers and sisters, kumars and kumaris, and so why do your physical organs make mischief? Maya finishes off big millionaires and billionaires. Maya completely kills even the poor. Then they say: Baba, I got hit. Oh! You were defeated, even after 10 years. Now you will fall into the extreme depths of hell. You can understand what their stage is like inside. Some do very good service. Kumaris even shot the arrows at Bhishampitamay etc. These things are mentioned in the Gita a little. There are the versions of God. If God Krishna spoke the Gita, why does it say: “Very few know Me as I am and what I am”? You can’t imagine what they would do if Krishna were here! Krishna exists in that body in the golden age. They don’t know that I enter the body of the last birth of Krishna. Everyone would instantly come running in front of Krishna. When the Pope comes, such a huge crowd gathers in front of him. People don’t understand that, at this time, everyone is impure and tamopradhan. They say: O Purifier come! However, they don’t consider themselves to be impure. The Father explains to the children so well. Baba’s intellect goes to the special children at all the centres. When many specially loved children come here, I look at them here. Otherwise, I have to think of them outside. I perform the dance of knowledge in front of them. When the majority is of knowledgeable souls, there is great pleasure. There are many assaults on the daughters. They have to tolerate so much every cycle. By coming into knowledge, they even stop doing devotion. If they have a temple in their home and both husband and wife perform devotion, but the wife then becomes interested in knowledge and stops performing devotion, there is so much upheaval. She won’t indulge in vice and will also stop studying the scriptures, and so there is fighting. There are many obstacles in this. They don’t prevent you from going to other spiritual gatherings. Here, it is a matter of purity. When men are unable to stay at home, they go away to the forests. Where would women go? They believe that women are the gateway to hell. The Father says: They are the gateway to heaven. You daughters are establishing heaven. Previously, you were the gateway to hell. Now heaven is being established. The golden age is the gateway to heaven and the iron age is the gateway to hell. This is something to be understood. You children also understand this, numberwise, according to your efforts. Although you remain pure, you imbibe knowledge, numberwise. You have come away from there and are now sitting here. However, it is explained to you that you now have to live in your households with your families. They have so much difficulty! Those who live here have no difficulty at all. Therefore, the Father explains: Live at home with your families and remain as pure as a lotus. This is a matter of just this one final birth. While living at home with your families, consider yourselves to be souls. It is souls that listen to this and souls that have to become this. It is souls that have been wearing different dresses every birth. We souls now have to return home. We have to have yoga with the Father. This is the main thing. The Father says: I am talking to souls. Each soul resides in the centre of the forehead and listens through these organs. When a soul is not in his body, the body becomes a corpse. The Father comes and gives such wonderful knowledge. No one, except the Supreme Soul, can explain these things. Sannyasis etc. do not look at souls. They consider each soul to be the Supreme Soul. Then they say that the soul is immune to the effect of action and they therefore go to the Ganges to wash their bodies. They don’t understand that it is the soul that becomes impure, that it is the soul that does everything. The Father continues to explain to you. Don’t think: I am so-and-so, I am such-and-such… No, all are souls. There must be no discrimination of caste. Consider yourselves to be souls. The Government doesn’t believe in any religion. All of those religions are of bodies but the Father of all souls is just the One. You have to look at souls. The original religion of all souls is peace. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Listen to all the useless things you hear with one ear and then let them out of the other ear. Hear no evil, see no evil! Imbibe the teachings that the Father gives you.
  2. Never have any limited desires. Be very cautious about your eyes. Let there be no criminal vision. Do not let any of your physical organs make mischief. Stay full of happiness.
Blessing: May you become an image of attraction by increasing the shine of the soul conscious form with the oil of attention.
Once the star of the soul conscious form has been made to shine by the Father with knowledge, it cannot be extinguished. However, the percentage of the shine can increase or decrease. The shining star will attract everyone when you continue to pour the oil of attention into the lamp every day at amrit vela. When oil is poured into a lamp, it remains constantly lit. To pay complete attention in this way means to instill in yourself all the Father’s virtues and powers. By paying such attention you will become an image of attraction.
Slogan: With the attitude of unlimited disinterest, reveal the seed of spiritual endeavour.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 11 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

11-12-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – मधुबन होलीएस्ट ऑफ दी होली बाप का घर है, यहाँ तुम किसी भी पतित को नहीं ला सकते”
प्रश्नः- इस ईश्वरीय मिशन में जो पक्के निश्चय बुद्धि हैं उनकी निशानियां क्या होंगी?
उत्तर:- 1- वे स्तुति-निंदा … सबमें धीरज से काम लेंगे, 2. क्रोध नहीं करेंगे, 3. किसी को भी दैहिक दृष्टि से नहीं देखेंगे। आत्मा को ही देखेंगे, आत्मा होकर बात करेंगे, 4. स्त्री-पुरुष साथ में रहते कमल फूल समान रहेंगे, 5. किसी भी प्रकार की तमन्ना (इच्छा) नहीं रखेंगे।
गीत:- जले न क्यों परवाना……..

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप समझा रहे हैं अर्थात् भगवान पढ़ा रहे हैं रूहानी स्टूडेन्ट को। उन स्कूलों में जो बच्चे पढ़ते हैं, उन्हें कोई रूहानी स्टूडेन्ट नहीं कहेंगे। वे तो हैं ही आसुरी विकारी सम्प्रदाय के। आगे तुम भी आसुरी अथवा रावण सम्प्रदाय के थे। अब राम राज्य में चलने के लिए 5 विकारों रूपी रावण पर जीत पाने का पुरुषार्थ कर रहे हो। यह जो नॉलेज प्राप्त नहीं करते उन्हों को समझाना पड़ता है – तुम रावण राज्य में हो। खुद समझते नहीं हैं। तुम अपने मित्र-सम्बन्धियों आदि को कहते हो हम बेहद के बाप से पढ़ते हैं तो ऐसे नहीं कि वह निश्चय करते हैं। कितना भी बाप कहे या भगवान कहे तो भी निश्चय नहीं करते। नये को तो यहाँ आने का हुक्म नहीं है। बिगर चिट्ठी वा बिगर पूछे तो कोई आ भी नहीं सकते। परन्तु कहाँ-कहाँ कोई आ जाते हैं, यह भी कायदे का उल्लंघन है। एक-एक का पूरा समाचार, नाम आदि लिख पूछना होता है। इनको भेज देवें? फिर बाबा कहते हैं भले भेज दो। अगर आसुरी पतित दुनिया के स्टूडेण्ट होंगे तो बाप समझायेंगे, वह पढ़ाई तो विकारी पतित पढ़ाते हैं। यह ईश्वर पढ़ाते हैं। उस पढ़ाई से पाई-पैसे का दर्जा मिलता है। भल कोई बहुत बड़ा इम्तहान पास करते हैं, फिर कहाँ तक कमाते रहेंगे। विनाश तो सामने खड़ा है। नैचुरल कैलेमिटीज भी सब आने वाली हैं। यह भी तुम समझते हो, जो नहीं समझते हैं उन्हों को बाहर विजिटिंग रूम में बिठाए समझाना होता है। यह है ईश्वरीय पढ़ाई, इसमें निश्चयबुद्धि ही विजयन्ती होंगे अर्थात् विश्व पर राज्य करेंगे। रावण सम्प्रदाय वाले तो यह जानते नहीं। इसमें बड़ी खबरदारी चाहिए। परमीशन बिगर कोई भी अन्दर आ नहीं सकता। यह कोई घूमने-फिरने की जगह नहीं है। थोड़े समय में कायदे कड़े हो जायेंगे क्योंकि यह है होलीएस्ट ऑफ दी होली। शिवबाबा को इन्द्र भी कहते हैं ना। यह इन्द्र सभा है। 9 रत्न अंगूठी में भी पहनते हैं ना। उन रत्नों में नीलम भी होता है, पन्ना, माणिक भी होता है। यह सब नाम रखे हुए हैं। परियों के भी नाम हैं ना। तुम परियाँ उड़ने वाली आत्मायें हो। तुम्हारा ही वर्णन है। परन्तु मनुष्य इन बातों को कुछ भी समझते नहीं हैं।

अंगूठी में भी रत्न जब डालते हैं, तो उनमें कोई पुखराज, नीलम, पेरूज़ भी होते हैं। कोई का दाम हज़ार रूपया तो कोई का दाम 10-20 रूपया। बच्चों में भी नम्बरवार हैं। कोई तो पढ़कर मालिक बन जाते हैं। कोई फिर पढ़कर दास-दासियाँ बन जाते हैं। राजधानी स्थापन होती है ना। तो बाप बैठ पढ़ाते हैं। इन्द्र भी उनको ही कहा जाता है। यह ज्ञान वर्षा है। ज्ञान तो सिवाए बाप के कोई दे न सके। तुम्हारी एम ऑब्जेक्ट ही यह है। अगर निश्चय हो जाए कि ईश्वर पढ़ाते हैं फिर वह पढ़ाई को छोड़ेंगे नहीं। जो होंगे ही पत्थरबुद्धि, उनको कभी तीर नहीं लगेगा। आकर चलते-चलते फिर गिर पड़ते हैं। 5 विकार आधाकल्प के शत्रु हैं। माया देह-अभिमान में लाकर थप्पड़ मार देती है फिर आश्चर्यवत् सुनन्ती, कथन्ती, भागन्ती हो जाते हैं। यह माया बड़ी दुश्तर है, एक ही थप्पड़ से गिरा देती है। समझते हैं हम कभी नहीं गिरेंगे फिर भी माया थप्पड़ लगा देती है। यहाँ स्त्री-पुरुष दोनों को पवित्र बनाया जाता है। सो तो ईश्वर के सिवाए कोई बना न सके। यह है ईश्वरीय मिशन।

बाप को खिवैया भी कहा जाता है, तुम हो नईया। खिवैया आते हैं, सभी की नईया को पार लगाने। कहते भी हैं सच की नईया डोलेगी परन्तु डूबेगी नहीं। कितने ढेर के ढेर मठ पंथ हैं। ज्ञान और भक्ति की जैसे लड़ाई होती है। कभी भक्ति की भी विजय होगी, आखिर तो ज्ञान की ही विजय होगी। भक्ति के तरफ देखो कितने बड़े-बड़े योद्धे हैं। ज्ञान मार्ग की तरफ भी कितने बड़े-बडे योद्धे हैं। अर्जुन भीम आदि नाम रखे हैं। यह तो सब कहानियाँ बैठ बनाई हैं। गायन तो तुम्हारा ही है। हीरो-हीरोइन का पार्ट तुम्हारा अभी बज रहा है। इस समय ही युद्ध चलती है। तुम्हारे में भी बहुत हैं जो इन बातों को बिल्कुल समझते नहीं हैं। जो अच्छे-अच्छे होंगे उनको ही तीर लगेगा। थर्ड-क्लास तो बैठ न सकें। दिन-प्रतिदिन बहुत कड़े कायदे होते जायेंगे। पत्थरबुद्धि जो कुछ नहीं समझते उनको तो यहाँ बैठना भी बेकायदे है।

यह हाल होलीएस्ट ऑफ होली है। पोप को होली कहते हैं। यह तो बाप है होलीएस्ट ऑफ होली। बाप कहते हैं इन सभी का मुझे कल्याण करना है। यह सब विनाश हो जाने वाले हैं। यह भी कोई सब थोड़ेही समझते हैं। भल सुनते हैं परन्तु एक कान से सुन दूसरे कान से निकाल देते हैं। न कुछ धारण करते हैं, न कराते हैं। ऐसे गूंगे-बहरे भी बहुत हैं। बाप कहते हैं हियर नो ईविल…. वह तो बन्दर का चित्र दिखाते हैं। परन्तु यह तो मनुष्य के लिए कहा जाता है। मनुष्य इस समय बन्दर से भी बदतर हैं। नारद की भी कहानी बैठ बनाई है। उनको बोला तुम अपनी शक्ल तो देखो – 5 विकार तो अन्दर में नहीं हैं? जैसे साक्षात्कार होता है। हनुमान का भी साक्षात्कार होता है ना। बाप कहते हैं कल्प-कल्प यह होता है। सतयुग में यह कुछ भी बातें होती नहीं। यह पुरानी दुनिया ही खत्म हो जायेगी। जो पक्के निश्चयबुद्धि हैं, वह समझते हैं कल्प पहले भी हमने यह राज्य किया था। बाप कहते हैं – बच्चे, अब दैवी गुण धारण करो। कोई बेकायदे काम नहीं करो। स्तुति-निंदा सबमें धीरज धारण करना है। क्रोध नहीं होना चाहिए। तुम कितने ऊंच स्टूडेण्ट हो, भगवान बाप पढ़ाते हैं। वह डायरेक्ट पढ़ा रहे हैं फिर भी कितने बच्चे भूल जाते हैं क्योंकि साधारण तन है ना। बाप कहते हैं देहधारी को देखने से तुम इतना उठ नहीं सकेंगे। आत्मा को देखो। आत्मा यहाँ भ्रकुटी के बीच रहती है। आत्मा सुनकर कांध हिलाती है। हमेशा आत्मा से बात करो। तुम आत्मा इस शरीर रूपी तख्त पर बैठी हो। तुम तमोप्रधान थी अब सतोप्रधान बनो। अपने को आत्मा समझ बाप को याद करने से देह का भान छूट जायेगा। आधाकल्प का देह-अभिमान रहा हुआ है। इस समय सब देह-अभिमानी हैं।

अब बाप कहते हैं देही-अभिमानी बनो। आत्मा ही सब कुछ धारण करती है। खाती-पीती सब कुछ आत्मा करती है। बाप को तो अभोक्ता कहा जाता है। वह है निराकार। यह शरीरधारी सब कुछ करते हैं। वह खाता-पीता कुछ नहीं, अभोक्ता है। तो इसकी फिर वो लोग कॉपी बैठ करते हैं। कितना मनुष्यों को ठगते हैं। तुम्हारी बुद्धि में अभी सारा ज्ञान है, कल्प पहले जिन्होंने समझा था वही समझेंगे। बाप कहते हैं मैं ही कल्प-कल्प आकर तुमको पढ़ाता हूँ और साक्षी हो देखता हूँ। नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार जो पढ़ा था वही पढ़ेंगे। टाइम लगता है। कहते हैं कलियुग अभी 40 हज़ार वर्ष शेष है। तो घोर अन्धियारे में हैं ना। इसको अज्ञान अंधियारा कहा जाता है। भक्ति मार्ग और ज्ञान मार्ग में रात-दिन का फ़र्क है। यह भी समझने की बातें हैं। बच्चे बड़ी खुशी में डूबे हुए रहने चाहिए। सब कुछ है, कोई तमन्ना नहीं। जानते हैं कल्प पहले मिसल हमारी सब कामनायें पूरी होती हैं इसलिए पेट भरा रहता है। जिनको ज्ञान नहीं, उनका थोड़ेही पेट भरा रहेगा। कहा जाता है – खुशी जैसी खुराक नहीं। जन्म-जन्मान्तर की राजाई मिलती है। दास-दासी बनने वालों को इतनी खुशी नहीं रहेगी। पूरा महावीर बनना है। माया हिला न सके।

बाप कहते हैं आंखों की बड़ी सम्भाल रखनी है। क्रिमिनल दृष्टि न जाए। स्त्री को देखने से चलायमान हो जाते हैं। अरे तुम तो भाई-बहन, कुमार-कुमारी हो ना। फिर कर्मेन्द्रियाँ चंचलता क्यों करती! बड़े-बड़े लखपति, करोड़पति को भी माया खलास कर देती है। गरीबों को भी माया एकदम मार डालती है। फिर कहते बाबा हमने धक्का खाया। अरे 10 वर्ष के बाद भी हार खा ली। अब तो पाताल में गिर पड़े। अन्दर में समझते हैं इनकी अवस्था कैसी है। कोई-कोई तो बड़ी अच्छी सर्विस करते हैं। कन्याओं ने भी भीष्म पितामह आदि को बाण मारे हैं ना। गीता में थोड़ा बहुत है। यह तो है ही भगवानुवाच। अगर कृष्ण भगवान ने गीता सुनाई तो फिर ऐसा क्यों कहते मैं जो हूँ जैसा हूँ, कोई विरला जानते। कृष्ण यहाँ होता तो पता नहीं क्या कर देते। कृष्ण का शरीर तो होता ही है सतयुग में। यह नहीं जानते कि कृष्ण के बहुत जन्मों के अन्त के शरीर में मैं प्रवेश करता हूँ। कृष्ण के आगे तो झट सब भाग आयें। पोप आदि आते हैं तो कितना झुण्ड जाकर इकट्ठा होता है। मनुष्य यह थोड़ेही समझते कि इस समय सब पतित तमोप्रधान हैं। कहते भी हैं हे पतित-पावन आओ परन्तु समझते नहीं कि हम पतित हैं। बच्चों को बाप कितना अच्छी रीति समझाते हैं। बाबा की बुद्धि तो सब सेन्टर्स के अनन्य बच्चों तरफ चली जाती है। जब जास्ती अनन्य बच्चे यहाँ आते हैं तो फिर यहाँ देखता हूँ, नहीं तो बाहर में बच्चों को याद करना पड़ता है। उनके आगे ज्ञान डांस करता हूँ। मैजारिटी ज्ञानी तू आत्मा होते हैं तो मजा भी आता है। नहीं तो बच्चियों पर कितना अत्याचार होते हैं। कल्प-कल्प सहन करना पड़ता है। ज्ञान में आने से फिर भक्ति भी छूट जाती है। घर में समझो मन्दिर है, स्त्री-पुरुष दोनों भक्ति करते हैं, स्त्री को ज्ञान की चटक लग जाती है और भक्ति छोड़ देती तो कितना हंगामा हो जायेगा। विकार में भी न जाये, शास्त्र आदि भी न पढ़े तो झगड़ा होगा ना। इसमें विघ्न बहुत पड़ते हैं, और सतसंग में जाने के लिए रोकते नहीं हैं। यहाँ है पवित्रता की बात। पुरुष तो नहीं रह सकते तो जंगल में चले जाते, स्त्रियाँ कहाँ जायें। स्त्रियों के लिए वह समझते हैं नर्क का द्वार है। बाप कहते हैं यह तो स्वर्ग का द्वार हैं। तुम बच्चियाँ अभी स्वर्ग स्थापन करती हो। इनसे पहले नर्क का द्वार थी। अभी स्वर्ग की स्थापना होती है। सतयुग है स्वर्ग का द्वार, कलियुग है नर्क का द्वार। यह समझ की बात है। तुम बच्चे भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार समझते हो। भल पवित्र तो रहते हैं। बाकी ज्ञान की धारणा नम्बरवार होती है। तुम तो वहाँ से निकलकर यहाँ आकर बैठे हो, परन्तु अब तो समझाया जाता है गृहस्थ व्यवहार में रहना है। उन्हों को तकलीफ होती है। यहाँ रहने वालों के लिए तो कोई तकलीफ नहीं है। तो बाप समझाते हैं कमल फूल समान गृहस्थ व्यवहार में रहते पवित्र रहो। सो भी इस अन्तिम जन्म की बात है। गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए अपने को आत्मा समझो। आत्मा ही सुनती है, आत्मा ही यह बनी है। आत्मा ही जन्म-जन्मान्तर भिन्न-भिन्न ड्रेस पहनती आई है। अब हम आत्माओं को वापिस जाना है। बाप से योग लगाना है। मूल बात है यह। बाप कहते हैं मैं आत्माओं से बात करता हूँ। आत्मा भ्रकुटी के बीच रहती है। इन आरगन्स द्वारा सुनती है। आत्मा इनमें नहीं होती तो शरीर मुर्दा बन जाता। बाप कितना वण्डरफुल ज्ञान आकर देते हैं। परमात्मा बिगर तो यह बातें कोई समझा न सके। संन्यासी आदि कोई आत्मा को थोड़ेही देखते हैं। वह तो आत्मा को परमात्मा समझते हैं। दूसरा फिर कहते आत्मा में लेप-छेप नहीं लगता है। शरीर को धोने गंगा में जाते हैं। यह नहीं समझते आत्मा ही पतित बनती है। आत्मा ही सब कुछ करती है। बाप समझाते रहते हैं, यह मत समझो हम फलाना हूँ, यह फलाना है…। नहीं, सब आत्मायें हैं। जाति-पाति का कोई भेद नहीं रहना चाहिए। अपने को आत्मा समझो। गवर्मेन्ट कोई धर्म को नहीं मानती। यह सब धर्म तो देह के हैं। परन्तु सब आत्माओं का बाप तो एक ही है। देखना भी आत्मा को है। सभी आत्माओं का स्वधर्म शान्त है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) जो बात काम की नहीं है, उसे एक कान से सुन दूसरे से निकाल देना है, हियर नो ईविल…… बाप जो शिक्षायें देता है उसे धारण करना है।

2) कोई भी हद की तमन्नायें नहीं रखनी है। आंखों की बड़ी सम्भाल रखनी है। क्रिमिनल दृष्टि न जाए। कोई भी कर्मेन्द्रिय चलायमान न हो। खुशी से भरपूर रहना है।

वरदान:- अटेन्शन रूपी घृत द्वारा आत्मिक स्वरूप के सितारे की चमक को बढ़ाने वाले आकर्षण मूर्त भव
जब बाप द्वारा, नॉलेज द्वारा आत्मिक स्वरूप का सितारा चमक गया तो बुझ नहीं सकता, लेकिन चमक की परसेन्टेज कम और ज्यादा हो सकती है। यह सितारा सदा चमकता हुआ सबको आकर्षित तब करेगा जब रोज़ अमृतवेले अटेन्शन रूपी घृत डालते रहेंगे। जैसे दीपक में घृत डालते हैं तो वह एकरस जलता है। ऐसे सम्पूर्ण अटेन्शन देना अर्थात् बाप के सर्व गुण वा शक्तियों को स्वयं में धारण करना। इसी अटेन्शन से आकर्षण मूर्त बन जायेंगे।
स्लोगन:- बेहद की वैराग्यवृत्ति द्वारा साधना के बीज को प्रत्यक्ष करो।

TODAY MURLI 11 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 11 December 2019

11/12/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, this most auspicious confluence age is the age to transfer yourselves. You now have to change from the most degraded humans into the most elevated humans.
Question: Which children are praised with the Father?
Answer: The praise of those who become teachers and instruments to benefit many is sung with the Father’s praise. Baba, Karankaravanhar, benefits many through you children. This is why you children are also praised with the Father. People say: Baba, so-and-so had mercy on Me and look what I have now become from what I was! Without becoming a teacher you cannot receive blessings.

Om shanti. The spiritual Father asks you spiritual children. First, He explains and then He also asks. You children now know the Father. Some people say that He is omnipresent but, before that, they should at least be able to recognise the Father – who the Father is. They should recognise Him and then say where His place of residence is. If someone does not know the Father, how can he come to know about His place of residence? They simply say that He is beyond name and form, which means that He doesn’t exist. So, how could they even think of a place of residence for someone who doesn’t exist? You children now know this. First of all, the Father gave you His own introduction. Then He explained about His place of residence. The Father says: I have come to give you My introduction through this chariot. I am the Father of all of you, the One who is called the Supreme Father. No one knows anything about a soul. If the Father had no name, form, time or place, how could there be any of this for His children? If the Father is beyond name and form, where would His children come from? Since there are the children, there must definitely be the Father. This proves that He is not beyond name and form. His children also have names and forms, no matter how subtle they are. The sky is subtle but it still has the name “sky”. Empty space is subtle, and so the Father too is very subtle. Children speak of the wonderful star that enters the body of this one who is also called a soul. The Father resides in the supreme abode which the place of residence. Their vision goes upwards when they point upwards with their fingers and remember Him. Therefore, the One they remember must definitely exist. They speak of the Supreme Father, the Supreme Soul. To say that He is beyond name and form is ignorance. Knowing the Father means to have knowledge. You understand that you were previously ignorant; you neither knew the Father nor yourselves. Now you understand that you are souls and not bodies. Souls are said to be imperishable, and so they are definitely things that exist. The word “imperishable” is not a name for souls. Imperishable means that which can’t be destroyed. Therefore, it definitely is something. This has been explained very well to you children. You sweetest children, the ones whom He calls His children, are imperishable souls. It is the Supreme Soul, the Supreme Father of all souls, who is sitting here and explaining to you. This play is only performed once when the Father comes and gives His introduction to His children. I too am an actor. How I play My part is in your intellects. He makes old, impure souls new and pure. Therefore, the bodies you receive there are also beautiful. This is now in your intellect. You say: Baba! Baba! This part is now being enacted. You souls say that Baba has come in order to take you children back home to your abode of silence. After the land of silence, there is the land of happiness. There cannot be the land of sorrow immediately after the land of silence. There can only be happiness in the new world. If those deities were living now and someone asked them where they now reside, they would say that they reside in heaven. Those non-living images can’t tell you this. However, you can say that we were the deities who originally resided in heaven and that, having gone around the cycle of 84 births, we are now at the confluence age. This is the most elevated confluence age when we are transferred. You children know that you are becoming the most elevated human beings. Every 5000 years, you become satopradhan. All of you become satopradhan, numberwise. It is souls that have received parts. You would not say that it is human beings who receive parts. It is I, the soul, who receives a partI, the soul, take 84 births. I, the soul, am an heir. Heirs are always male, not female. Therefore, you children should firmly understand that you souls are male. All of us receive the inheritance from the unlimited Father. Only sons, not daughters, receive an inheritance from a limited, physical father. It isn’t that some souls always become female. The Father explains that all souls sometimes take male bodies and sometimes female bodies. At this time, all of you (souls) are male. All souls receive the inheritance from the one Father. All of you are sons. The Father of all is One. The Father says: O children, all of you souls are males. You are My spiritual children. Both males and females are needed for you to play your parts, for only then can the human world population grow. No one but you knows these things. Although people say that they are brothers, they do not understand how. You now say: Baba, we have claimed our inheritance from You innumerable times. This has become firm for you souls. Souls definitely remember the Father: “O Baba, have mercy! Baba, come now and we will all become Your children! We souls will forget our bodies and all our bodily relations and will only remember You.” The Father has explained: Consider yourselves to be souls and remember Me, the Father. How you claim your inheritance from the Father and how you become deities every 5000 years is something you have to know. You now know from whom you receive the inheritance of heaven. The Father is not a resident of heaven, but He makes you children that. He Himself only comes in hell. You invite the Father to hell when you have all become tamopradhan. This is the tamopradhan world. The world was satopradhan 5000 years ago when it was their kingdom. You now understand these aspects of this study. This is the study for becoming deities from ordinary human beings. It is said that it didn’t take God long to change humans into deities. When you become a child, you become an heir. The Father says: All of you souls are My children and I give you all the inheritance. You are all brothers. Your place of residence is the supreme region, the land beyond sound (nirvana), which is also called the incorporeal world. All souls reside there. Beyond the sun and the moon is your home of sweet silence, but you can’t go and just sit there for evermore. What would you do whilst sitting there? That is a non-living stage. Only when souls are playing parts are they said to be living. Souls are living, but when they are not playing parts, they are non-living. If you simply stand here without moving your hands or feet, it would be as though you were non-living. There, there is natural silence. It is as though souls are non-living; they do not perform any parts there. The beauty is in the parts you play. What beauty would there be in the land of silence? Souls there are beyond experiencing happiness or sorrow. They don’t perform any parts there and so, what would be the benefit of staying there? You first of all play your parts of happiness. Each of you has received a part in advance. Some say that they want eternal liberation. If that bubble were to merge into the water, it would be as though that soul no longer existed. When a soul has no part to play, he is said to be non-living. While being a living being, what would be the benefit of him staying there as a non-living being? Everyone has to play a part. The principal parts are played by the hero and heroine. You children receive the titles of hero and heroine. You souls play your parts here. First, you rule the kingdom of happiness and then you go into Ravan’s kingdom of sorrow. The Father now says: You children now have to give everyone this message. You must become teachers and explain these things to others. Those who do not become teachers will claim a low status. How can any of you claim blessings unless you become a teacher? If you give others wealth, they would become happy, would they not? They would feel inside that you Brahma Kumaris have such a lot of mercy for them that you completely transform them. In fact, they only sing praise of the one Father: Wah Baba! You bring so much benefit to us through these children! It has to happen through someone. The Father is the One who inspires others to act and who has everything accomplished through others. He enables everything to be done through you. Therefore, there is benefit for you. This is why you plant this sapling and benefit others. To whatever extent you serve, you claim a status accordingly. In order to become a king, you have to create subjects. Those who are placed high in the rosary become kings. The rosary has to be created. Ask yourself: What number will I claim in the rosary? The nine jewels are the main ones. The One who makes others into diamonds is in the middle. The diamond is set in the middle of the jewels just as at the beginning of a rosary there is a tassel. At the end, you will come to know who the main beads are that go into the dynasty. At the end, you will definitely have visions. You will see how everyone experiences punishment. At the start of the yagya, you used to see this in the subtle region in divine visions. This is incognito. Where a soul experiences punishment is also part of the drama. Souls are punished in the jail of a womb. When they are in jail, they see Dharamraj and cry to be let out. All sicknesses etc. are also karmic accounts. All of these things have to be understood. The Father will definitely tell you that which is right. You are now becoming righteousRighteous ones are those who take a lot of strength from the Father. You become the masters of the world and so you are given so much strength. There is no question of upheaval etc. in this. It is when someone has insufficient strength that there are so many upheavals. You children receive enough strength to last you for half a cycle. However, that too is numberwise according to the effort you make. You can’t all receive power to the same extent. You can’t all receive the same status. All of this is predestined; it is eternally predestined in the drama. Some come at the very end; they take one or two births and then leave their bodies. They are just like the mosquitoes at the time of Diwali that are born at night and die by the morning; they are countless. You can at least count human beings. The souls that come at the beginning have a long lifespan. You children should have so much happiness that you are the ones who will have a long lifespan. You play full parts. The Father explains to you how you play your full parts. You come down from aboveto play your parts according to how much you study now. This study of yours is for the new world. The Father says: I have taught you many times before. This study is imperishable. You claim a reward for half a cycle. Through a perishable study you experience temporary happiness. Someone who becomes a barrister now will become a barrister after a cycle. You also know that whatever part someone plays, he will play that part every cycle. Whether someone is a deity or a shudra, each one plays his same part every cycle. There cannot be the slightest difference in this. Each one plays his own part. This play is predestined. You ask: Which is greater: the effort or the reward? Without making effort, there can be no reward. According to the drama, you receive your reward by making effort. Everything depends on the drama. Some make effort, whereas others don’t. They come here and yet they don’t make any effort. Therefore, they don’t receive any reward. Whatever is enacted in the world drama is predestined. Each soul has his part from the beginning to the end already fixed in him. Similarly, you souls have to play your parts of 84 births. You become like diamonds and then you become like shells. It is now that you hear about these things. If someone fails at school, it is said that he doesn’t have an intellect, that he is unable to learn anything. This is called the varietytree and the varietyfeatures. Only the Father explains the knowledge of the varietytree to you. He also explains the kalpa tree. The example of the banyan tree refers to this; its branches spread out a great deal. You children understand that souls are imperishable. Your bodies will be destroyed. It is you souls that imbibe this knowledge. You souls take 84 births. The bodies keep changing. You souls remain the same, whereas you keep taking different bodies with which you play your parts. This is a new aspect. You children have now been given this understanding. You also understood this a cycle ago. The Father comes in Bharat. You continue to give everyone this message. There should be no one who doesn’t receive this message. Everyone has a right to hear this message and everyone will also claim an inheritance from the Father. Since they are children of the Father, they should at least hear something. The Father explains: I am the Father of all you souls. You souls claim that status by studying the beginning, the middle and the end of creation from Me. All other souls go and rest in the land of liberation. The Father grants everyone salvation. They say: God, your game is so wonderful! What game? The game of transforming this old world. You all know about this. It is only human beings who would know this. The Father comes and only tells you children these things. The Father is knowledgefull and He makes you knowledgefull. You become this, numberwise. Those who claim a scholarship are said to be knowledgefull. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Always remain aware that all of you souls are male and that you have to claim your full inheritance from the Father. Study and teach others this study of becoming deities from ordinary human beings.
  2. Whatever act is being played out in the whole world, it is predestined in the drama. Both the effort and the reward are fixed within it. You must understand very clearly that if no effort is made, there can be no reward.
Blessing: May you be filled with peace and happiness by knowing the depth of purity and become a great soul.
Know the greatness of the power of purity and become pure, that is, become worthy of worship deity souls now. Do not think that you will become that at the end. Power accumulated over a long period of time will be useful at the end. To become pure is not an ordinary thing. You remain celibate and have become pure, but purity is the mother. Therefore, to become the mother of peace and happiness through your thoughts, attitude, atmosphere, words and connections is known as being a great soul.
Slogan: Stabilise yourself in an elevated stage and give all souls the drishti of mercy and spread those vibrations.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 11 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 December 2019

11-12-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – यह पुरूषोत्तम संगमयुग ट्रांसफर होने का युग है, अभी तुम्हें कनिष्ट से उत्तम पुरूष बनना है”
प्रश्नः- बाप के साथ-साथ किन बच्चों की भी महिमा गाई जाती है?
उत्तर:- जो टीचर बन बहुतों का कल्याण करने के निमित्त बनते हैं, उनकी महिमा भी बाप के साथ-साथ गाई जाती है। करन-करावनहार बाबा बच्चों से अनेकों का कल्याण कराते हैं तो बच्चों की भी महिमा हो जाती है। कहते हैं-बाबा, फलाने ने हमारे पर दया की, जो हम क्या से क्या बन गये! टीचर बनने बिगर आशीर्वाद मिल नहीं सकती।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों से पूछते हैं। समझाते भी हैं फिर पूछते भी हैं। अब बाप को बच्चों ने जाना है। भल कोई सर्वव्यापी भी कहते हैं परन्तु उनके पहले बाप को पहचानना तो चाहिए ना-बाप कौन है? पहचान कर फिर कहना चाहिए, बाप का निवास स्थान कहाँ है? बाप को जानते ही नहीं तो उनके निवास स्थान का पता कैसे पड़े। कह देते वह तो नाम-रूप से न्यारा है, गोया है नहीं। तो जो चीज़ है नहीं उनके रहने के स्थान का भी कैसे विचार किया जाए? यह अभी तुम बच्चे जानते हो। बाप ने पहले-पहले तो अपनी पहचान दी है, फिर रहने का स्थान समझाया जाता है। बाप कहते हैं मैं तुमको इस रथ द्वारा पहचान देने आया हूँ। मैं तुम सबका बाप हूँ, जिसको परमपिता कहा जाता है। आत्मा को भी कोई नहीं जानते हैं। बाप का नाम, रूप, देश, काल नहीं है तो बच्चों का फिर कहाँ से आये? बाप ही नाम-रूप से न्यारा है तो बच्चे फिर कहाँ से आये? बच्चे हैं तो जरूर बाप भी है। सिद्ध होता है वह नाम-रूप से न्यारा नहीं है। बच्चों का भी नाम-रूप है। भल कितना भी सूक्ष्म हो। आकाश सूक्ष्म है तो भी नाम तो है ना आकाश। जैसे यह पोलार सूक्ष्म है, वैसे बाप भी बहुत सूक्ष्म है। बच्चे वर्णन करते हैं वन्डरफुल सितारा है, जो इनमें प्रवेश करते हैं, जिसको आत्मा कहते हैं। बाप तो रहते ही हैं परमधाम में, वह रहने का स्थान है। ऊपर नज़र जाती है ना। ऊपर अंगुली से इशारा कर याद करते हैं। तो जरूर जिसको याद करते हैं, कोई वस्तु होगी। परमपिता परमात्मा कहते तो हैं ना। फिर भी नाम-रूप से न्यारा कहना-इसे अज्ञान कहा जाता है। बाप को जानना, इसे ज्ञान कहा जाता है। यह भी तुम समझते हो हम पहले अज्ञानी थे। बाप को भी नहीं जानते थे, अपने को भी नहीं जानते थे। अब समझते हो हम आत्मा हैं, न कि शरीर। आत्मा को अविनाशी कहा जाता है तो जरूर कोई चीज़ है ना। अविनाशी कोई नाम नहीं। अविनाशी अर्थात् जो विनाश को नहीं पाती। तो जरूर कोई वस्तु है। बच्चों को अच्छी रीति समझाया गया है, मीठे-मीठे बच्चों, जिनको बच्चे-बच्चे कहते हैं वह आत्मायें अविनाशी हैं। यह आत्माओं का बाप परमपिता परमात्मा बैठ समझाते हैं। यह खेल एक ही बार होता है जबकि बाप आकर बच्चों को अपना परिचय देते हैं। मैं भी पार्टधारी हूँ। कैसे पार्ट बजाता हूँ, यह भी तुम्हारी बुद्धि में है। पुरानी अर्थात् पतित आत्मा को नया पावन बनाते हैं तो फिर शरीर भी तुम्हारे वहाँ गुल-गुल होते हैं। यह तो बुद्धि में है ना।

अभी तुम बाबा-बाबा कहते हो, यह पार्ट चल रहा है ना। आत्मा कहती है बाबा आया हुआ है – हम बच्चों को शान्तिधाम घर ले जाने के लिए। शान्तिधाम के बाद है ही सुखधाम। शान्तिधाम के बाद दु:खधाम हो न सके। नई दुनिया में सुख ही कहा जाता है। यह देवी-देवतायें अगर चैतन्य हों और इनसे कोई पूछे आप कहाँ के रहने वाले हो, तो कहेंगे हम स्वर्ग के रहने वाले हैं। अब यह जड़ मूर्ति तो नहीं कह सकती। तुम तो कह सकते हो ना, हम असुल स्वर्ग में रहने वाले देवी-देवतायें थे फिर 84 का चक्र लगाए अब संगम पर आये हैं। यह ट्रांसफर होने का पुरूषोत्तम संगमयुग है। बच्चे जानते हैं हम बहुत उत्तम पुरूष बनते हैं। हम हर 5 हज़ार वर्ष बाद सतोप्रधान बनते हैं। सतोप्रधान भी नम्बरवार कहेंगे। तो यह सारा पार्ट आत्मा को मिला हुआ है। ऐसे नहीं कहेंगे कि मनुष्य को पार्ट मिला हुआ है। अहम् आत्मा को पार्ट मिला हुआ है। मैं आत्मा 84 जन्म लेती हूँ। हम आत्मा वारिस हैं, वारिस हमेशा मेल होते हैं, फीमेल नहीं। तो अभी तुम बच्चों को यह पक्का समझना है हम सब आत्मायें मेल हैं। सबको बेहद के बाप से वर्सा मिलता है। हद के लौकिक बाप से सिर्फ बच्चों को वर्सा मिलता है, बच्ची को नहीं। ऐसे भी नहीं, आत्मा सदैव फीमेल बनती है। बाप समझाते हैं तुम आत्मा कभी मेल का, कभी फीमेल का शरीर लेती हो। इस समय तुम सब मेल्स हो। सब आत्माओं को एक बाप से वर्सा मिलता है। सब बच्चे ही बच्चे हैं। सबका बाप एक है। बाप भी कहते हैं-हे बच्चों, तुम सब आत्मायें मेल्स हो। हमारे रूहानी बच्चे हो। फिर पार्ट बजाने लिए मेल-फीमेल दोनों चाहिए। तब तो मनुष्य सृष्टि की वृद्धि हो। इन बातों को तुम्हारे सिवाए कोई भी नहीं जानते हैं। भल कहते तो हैं हम सभी ब्रदर्स हैं परन्तु समझते नहीं।

अभी तुम कहते हो बाबा आपसे हमने अनेक बार वर्सा लिया है। आत्मा को यह पक्का हो जाता है। आत्मा बाप को जरूर याद करती है-ओ बाबा रहम करो। बाबा अब आप आओ, हम आपके सब बच्चे बनेंगे। देह सहित देह के सब सम्बन्ध छोड़ हम आत्मा आपको ही याद करेंगे। बाप ने समझाया है अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो। बाप से हम वर्सा कैसे पाते हैं, हर 5 हज़ार वर्ष बाद हम यह देवता कैसे बनते हैं, यह भी जानना चाहिए ना। स्वर्ग का वर्सा किससे मिलता है, यह अभी तुम समझते हो। बाप तो स्वर्गवासी नहीं है, बच्चों को बनाते हैं। खुद तो नर्क में ही आते हैं, तुम बाप को बुलाते भी नर्क में हो, जबकि तुम तमोप्रधान बनते हो। यह तमोप्रधान दुनिया है ना। सतोप्रधान दुनिया थी, 5 हज़ार वर्ष पहले इनका राज्य था। इन बातों को, इस पढ़ाई को अभी तुम ही जानते हो। यह है मनुष्य से देवता बनने की पढ़ाई। मनुष्य से देवता किये करत न लागी वार… बच्चा बना और वारिस बना, बाप कहते हैं तुम सब आत्मायें मेरे बच्चे हो। तुमको वर्सा देता हूँ। तुम भाई-भाई हो, रहने का स्थान मूलवतन अथवा निर्वाणधाम है, जिसको निराकारी दुनिया भी कहते हैं। सब आत्मायें वहाँ रहती हैं। इस सूर्य चांद से भी उस पार वह तुम्हारा स्वीट साइलेन्स घर है परन्तु वहाँ बैठ तो नहीं जाना है। बैठकर क्या करेंगे। वह तो जैसे जड़ अवस्था हो गई। आत्मा जब पार्ट बजाये तब ही चैतन्य कहलाये। है चैतन्य परन्तु पार्ट न बजाये तो जड़ हुई ना। तुम यहाँ खड़े हो जाओ, हाथ पांव न चलाओ तो जैसे जड़ हुए। वहाँ तो नैचुरल शान्ति रहती है, आत्मायें जैसे कि जड़ हैं। पार्ट कुछ भी नहीं बजाती। शोभा तो पार्ट में है ना। शान्तिधाम में क्या शोभा होगी? आत्मायें सुख-दु:ख की भासना से परे रहती हैं। कुछ पार्ट ही नहीं बजाती तो वहाँ रहने से क्या फायदा? पहले-पहले सुख का पार्ट बजाना है। हर एक को पहले से ही पार्ट मिला हुआ है। कोई कहते हैं हमको तो मोक्ष चाहिए। बुदबुदा पानी में मिल गया बस, आत्मा जैसेकि है नहीं। कुछ भी पार्ट न बजावे तो जैसे जड़ कहेंगे। चैतन्य होते हुए जड़ होकर पड़ा रहे तो क्या फायदा? पार्ट तो सबको बजाना ही है। मुख्य हीरो-हीरोइन का पार्ट कहा जाता है। तुम बच्चों को हीरो-हीरोइन का टाइटिल मिलता है। आत्मा यहाँ पार्ट बजाती है। पहले सुख का राज्य करती है फिर रावण के दु:ख के राज्य में जाती है। अब बाप कहते हैं तुम बच्चे सबको यह पैगाम दो। टीचर बन औरों को समझाओ। जो टीचर नहीं बनते उनका पद कम होगा। टीचर बनने बिगर किसको आशीर्वाद कैसे मिलेगी? किसको पैसा देंगे तो उनको खुशी होगी ना। अन्दर में समझते हैं बी.के. हमारे ऊपर बहुत दया करती हैं, जो हमको क्या से क्या बना देती हैं! यूँ तो महिमा एक बाप की ही करते हैं-वाह बाबा, आप इन बच्चों द्वारा हमारा कितना कल्याण करते हो! कोई द्वारा तो होता है ना। बाप करनकरावनहार है, तुम्हारे द्वारा कराते हैं। तुम्हारा कल्याण होता है। तो तुम फिर औरों को कलम लगाते हो। जैसे-जैसे जो सर्विस करते हैं, उतना ऊंच पद पाते हैं। राजा बनना है तो प्रजा भी बनानी है। फिर जो अच्छे नम्बर में आते हैं वह भी राजा बनते हैं। माला बनती है ना। अपने से पूछना चाहिए हम माला में कौन-सा नम्बर बनेंगे? 9 रत्न मुख्य हैं ना। बीच में है हीरा बनाने वाला। हीरे को बीच में रखते हैं। माला में ऊपर फूल भी है ना। अन्त में तुमको पता पड़ेगा-कौन-से मुख्य दाने बनते हैं, जो डिनायस्टी में आयेंगे। पिछाड़ी में तुमको सब साक्षात्कार होगा जरूर। देखेंगे, कैसे यह सब सजायें खाते हैं। शुरू में दिव्य दृष्टि में तुम सूक्ष्मवतन में देखते थे। यह भी गुप्त है। आत्मा सजायें कहाँ खाती है-यह भी ड्रामा में पार्ट है। गर्भ जेल में सजायें मिलती हैं। जेल में धर्मराज को देखते हैं फिर कहते हैं बाहर निकालो। बीमारियाँ आदि होती हैं, वह भी कर्म का हिसाब है ना। यह सब समझने की बातें हैं। बाप तो जरूर राइट ही सुनायेंगे ना। अभी तुम राइटियस बनते हो। राइटियस उनको कहा जाता है जो बाप से बहुत ताकत लेते हैं।

तुम विश्व के मालिक बनते हो ना। कितनी ताकत रहती है। हंगामें आदि की कोई बात नहीं। ताकत कम है तो कितने हंगामे हो जाते हैं। तुम बच्चों को ताकत मिलती है-आधाकल्प के लिए। फिर भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। एक जैसी ताकत नहीं पा सकते, न एक जैसा पद पा सकते हैं। यह भी पहले से नूँध है। ड्रामा में अनादि नूँध है। कोई पिछाड़ी में आते हैं, एक-दो जन्म लिया और शरीर छोड़ा। जैसे दीवाली पर मच्छर होते हैं, रात को जन्म लेते हैं, सुबह को मर जाते हैं। वह तो अनगिनत होते हैं। मनुष्य की तो फिर भी गिनती होती है। पहले-पहले जो आत्मायें आती हैं उनकी आयु कितनी बड़ी होती है! तुम बच्चों को खुशी होनी चाहिए – हम बहुत बड़ी आयु वाले बनेंगे। तुम फुल पार्ट बजाते हो। बाप तुमको ही समझाते हैं, तुम कैसे फुल पार्ट बजाते हो। पढ़ाई अनुसार ऊपर से आते हो पार्ट बजाने। तुम्हारी यह पढ़ाई है ही नई दुनिया के लिए। बाप कहते हैं अनेक बार तुमको पढ़ाता हूँ। यह पढ़ाई अविनाशी हो जाती है। आधाकल्प तुम प्रालब्ध पाते हो। उस विनाशी पढ़ाई से सुख भी अल्पकाल लिए मिलता है। अभी कोई बैरिस्टर बनता है फिर कल्प बाद बैरिस्टर बनेगा। यह भी तुम जानते हो-जो भी सबका पार्ट है, वही पार्ट कल्प-कल्प बजता रहेगा। देवता हो या शूद्र हो, हर एक का पार्ट वही बजता है, जो कल्प-कल्प बजता है। उनमें कोई फर्क नहीं हो सकता। हर एक अपना पार्ट बजाते रहते हैं। यह सारा बना-बनाया खेल है। पूछते हैं पुरूषार्थ बड़ा या प्रालब्ध बड़ी? अब पुरूषार्थ बिगर तो प्रालब्ध मिलती नहीं। पुरूषार्थ से प्रालब्ध मिलती है ड्रामा अनुसार। तो सारा बोझ ड्रामा पर आ जाता है। पुरूषार्थ कोई करते हैं, कोई नहीं करते हैं। आते भी हैं फिर भी पुरूषार्थ नहीं करते तो प्रालब्ध नहीं मिलती। सारी दुनिया में जो भी एक्ट चलती है, सारा बना-बनाया ड्रामा है। आत्मा में पहले से ही पार्ट नूँधा हुआ है आदि से अन्त तक। जैसे तुम्हारी आत्मा में 84 का पार्ट है, हीरा भी बनती है तो कौड़ी जैसा भी बनती है। यह सब बातें तुम अभी सुनते हो। स्कूल में अगर कोई नापास हो पड़ता है तो कहेंगे यह बुद्धिहीन है। धारणा नहीं होती, इसको कहा जाता है वैराइटी झाड़, वैराइटी फीचर्स। यह वैरायटी झाड़ का नॉलेज बाप ही समझाते हैं। कल्प वृक्ष पर भी समझाते हैं। बड़ के झाड़ का मिसाल भी इस पर है। उनकी शाखायें बहुत फैलती हैं।

बच्चे समझते हैं हमारी आत्मा अविनाशी है, शरीर तो विनाश हो जायेगा। आत्मा ही धारणा करती है, आत्मा 84 जन्म लेती है, शरीर तो बदलते जाते हैं। आत्मा वही है, आत्मा ही भिन्न-भिन्न शरीर लेकर पार्ट बजाती है। यह नई बात है ना। तुम बच्चों को भी अभी यह समझ मिली है। कल्प पहले भी ऐसे समझा था। बाप आते भी हैं भारत में। तुम सबको पैगाम देते रहते हो, कोई भी ऐसा नहीं रहेगा जिसको पैगाम न मिले। पैगाम सुनना सभी का हक है। फिर बाप से वर्सा भी लेंगे। कुछ तो सुनेंगे ना फिर भी बाप के बच्चे हैं ना। बाप समझाते हैं-मैं तुम आत्माओं का बाप हूँ। मेरे द्वारा इस रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानने से तुम यह पद पाते हो। बाकी सब मुक्ति में चले जाते हैं। बाप तो सबकी सद्गति करते हैं। गाते हैं अहो बाबा, तेरी लीला… क्या लीला? कैसी लीला? यह पुरानी दुनिया को बदलने की लीला है। मालूम होना चाहिए ना। मनुष्य ही जानेंगे ना। बाप तुम बच्चों को ही आकर सब बातें समझाते हैं। बाप नॉलेजफुल है। तुमको भी नॉलेजफुल बनाते हैं। नम्बरवार तुम बनते हो। स्कॉलरशिप लेने वाले नॉलेजफुल कहलायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सदा इसी स्मृति में रहना है कि हम आत्मा मेल हैं, हमें बाप से पूरा वर्सा लेना है। मनुष्य से देवता बनने की पढ़ाई पढ़नी और पढ़ानी है।

2) सारी दुनिया में जो भी एक्ट चलती है, यह सब बना-बनाया ड्रामा है, इसमें पुरूषार्थ और प्रालब्ध दोनों की नूँध है। पुरूषार्थ के बिना प्रालब्ध नहीं मिल सकती, इस बात को अच्छी तरह समझना है।

वरदान:- पवित्रता की गुह्यता को जान सुख-शान्ति सम्पन्न बनने वाली महान आत्मा भव
पवित्रता के शक्ति की महानता को जान पवित्र अर्थात् पूज्य देव आत्मायें अभी से बनो। ऐसे नहीं कि अन्त में बन जायेंगे। यह बहुत समय की जमा की हुई शक्ति अन्त में काम आयेगी। पवित्र बनना कोई साधारण बात नहीं है। ब्रह्मचारी रहते हैं, पवित्र बन गये हैं… लेकिन पवित्रता जननी है, चाहे संकल्प से, चाहे वृत्ति से, वायुमण्डल से, वाणी से, सम्पर्क से सुख-शान्ति की जननी बनना – इसको कहते हैं महान आत्मा।
स्लोगन:- ऊंची स्थिति में स्थित हो सर्व आत्माओं को रहम की दृष्टि दो, वायब्रेशन फैलाओ।

TODAY MURLI 11 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 11 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 10 December 2017 :- Click Here

11/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are benefactors for all human beings. You have to benefit many. You must practise becoming bodiless and you must also definitely do service.
Question: In which one aspect does even the Father say that it is the destiny of the drama and He then becomes silent?
Answer: When children who have taken sustenance from the Father for a long time become influenced by Maya, get married and go away somewhere, when they become amazed and then leave, the Father says: It is the destiny of the drama and becomes silent. The Father knows that these are obstacles in the yagya. The Father is concerned that the children don’t become trapped in anyone’s name or form. Maya creates many obstacles. This is why Baba advises you: Children, you mustn’t be afraid of Maya. Become victorious by having remembrance of the Father.

Om shanti. You sweetest children know that you are sitting in front of Bap and Dada. Everything is new. According to shrimat, you have to remember the one Father alone. The Father gives you shrimat through the body of Dada. You children are repeatedly cautioned: “Manmanabhav! That is, Remember the Father! You mustn’t remember this Dada. The Dada soul remembers the Father. Therefore, you too have to remember Him. You souls are bodiless and I too am bodiless. It is just that I am teaching you through this body. He is not the Almighty Authority. Only the one Father is the Almighty Authority. Although you become the masters of the world, you cannot be called almighty authorities. You conquer Ravan through the Almighty Authority and claim your royal status once again. The Father’s order is: Remember Me, your Father. You have now understood the secrets of the beginning, the middle and the end of the tree. You have now become so sensible, that is, you have knowledge in your intellects. You receive a very high status through this knowledge: you become Narayan from an ordinary man. This is the study of Raja Yoga. You also studied this study in the previous cycle. Your aim and objective is in front of you and it then depends on how much effort each one of you makes. You have to make a lot of effort and it is very easy. It is not difficult to know your own home. We souls are bodiless and we reside in the land of peace. You would not say peace of mind there. In fact, it is wrong to use the words ‘peace of mind’. The mind is a horse. While a soul has a body, the mind cannot become peaceful; actions have to be performed. Temporary peace is experienced at night when sleeping. A soul becomes tired from doing everything through the physical organs and so he becomes bodiless. The soul says: I am feeling sleepy, I am tired. So the soul then becomes bodiless. You now have to remember the Father so that your sins are absolved. Your sins will not be absolved by going to sleep. You have to make effort to remember the Father for this. This effort is very essential. The Father repeatedly says: Remember Me! The more service you do, the more of your own subjects you will create. Many subjects have to be created. You have to become benefactors for many people. You are benefactors for all human beings. In Ravan’s kingdom no one benefits anyone. When human beings make donations and perform charity, they believe that they are performing good actions. You say that the gates to Paradise open through this war. This is a very good war. You Brahmins have now become knowledgeable souls. How can those who have the five vices in them become deities? In order to change from an ordinary man into Narayan, very good effort is required. You have to make unlimited effort. No one, apart from the Father, can enable you to attain such a high status. No one else can teach you Raja Yoga. You now also know the biography of Lakshmi and Narayan. How did they claim their kingdom? From where did they receive it? Whom did they conquer? You explain to everyone that you are now studying Raja Yoga and becoming like Lakshmi and Narayan. God Himself is teaching you the story of changing from an ordinary man into Narayan. So you children should have a lot of intoxication. The Father has explained that it is the Supreme Father, the Supreme Soul, who establishes this Brahmin religion. Where would the Brahmin religion exist? Would it exist in the golden age? No, it would definitely exist here. Prajapita also exists here. The Father established the Brahmin religion and created the mouth-born creation of Brahma. He Himself says: I enter the body of an ordinary human being at the end of his many births. He doesn’t know his own births. People ask: Why have you kept Brahma here? Oh, but Prajapita has to exist here. They wonder how Brahma, a deity of the subtle region, could exist here. The Father sits here and explains to you the secrets of the 84 births of Prajapita Brahma. This is the final birth. He has to enter this one. The one that exists at the beginning will also exist at the end. Only the Father explains all of these secrets. Shiv Baba has had these pictures created through divine vision. Baba gave the direction that you have to prove that the cycle is 5000 years. Baba has had the pictures of heaven and hell made. It is not written in the Gita that the Supreme Father, the Supreme Soul, taught you. Look, it takes so long to explain! You continue to receive explanations day by day. Whatever was explained to you in the previous cycle, that is being explained to you now at this time. The part that is recorded in me, the soul, repeats. You understand that this is the impure world. It is now the last birth of everyone. The drama is now coming to an end. How could the deity religion be established from the golden age? In the golden age there is just the one undivided deity religion. At this time, it is your Brahmin religion. The secrets of the variety-form image are also explained to you. “Brahmins” means the topknot and then Brahmins become deities. People don’t know that Shiv Baba creates the Brahmin religion. You are now being transferred (converted) from shudras into Brahmins; from down below you go up above the sky. Souls now have to return home. When people go to the temples of the goddesses they don’t know who Jagadamba is. She is a Brahmin and you are also Brahmins. There is Jagadamba and also Jagadpita. Whoever it is someone worships, he will build a temple to that one. People don’t have the know ledge as to who Jagadamba is. She is the goddess of knowledge, and she then becomes the princess. Goddesses are worshipped a great deal. Lakshmi and Narayan are in the golden age and Rama and Sita are in the silver age. All the rest are the pictures of this time. There are innumerable pictures. They have built innumerable temples. You know that Brahma and Saraswati are Brahmins. Lakshmi would not be called a Brahmin; she is a deity. When she is a Brahmin, she fulfils all desires for 21 births. When she becomes Lakshmi, her grade is reduced. You are now the children of God. Your grade is high. No human beings can understand these things. You are the decoration of the Brahmin clan and you now belong to God. You will then go into the deity clan. This confluence age is benevolent. The Father makes Bharat into heaven. Bharat was ancient heaven. However, this doesn’t sit in anyone’s intellect. If the people of Bharat were to know this, they would become happy that they were the masters of heaven. When a person dies, people say that he has gone to heaven. Only Heavenly God, the Fathe r , creates heaven. The incorporeal world exists anyway; you cannot use the word ‘establishment’ for that. It is a religion that is established. That is the home of souls which becomes empty at this time. Then all souls will go back, numberwise. This has to be made to sit in the intellects of children in order for them to explain to others. All the souls who come to establish a religion have to go through the stages of sato, rajo and tamo. You now have to go up above. It is now your stage of ascent. You are spiritual Brahmins, the mouth-born creation. Those people are physical brahmins who are a physical creation. They take you on physical pilgrimages and relate religious stories. You Brahmins are those who explain the secrets of the beginning, the middle and the end of the world. Physical brahmins also come here. When they become aware that you are the true Brahmins, they understand that they have been relating false stories. They have false scriptures under their arms and you have knowledge in your intellects. Everything they relate is from studying the scriptures, whereas you have knowledge in your intellects, just as Baba has it in His intellect. Baba is the Truth, the Living Being, the Blissful One and the Seed. He is incorporeal. Your intellects have to imbibe this knowledgeKnowledge is not difficult. You simply have to pay attention. It isn’t that you have to leave your homes and families. That is just an excuse. For instance, when a daughter doesn’t want to get married, her father beats her. However, because she is young, she cannot run away anywhere. When she becomes an adolescent she comes and takes refuge. It is sung: I came and took refuge with You… This is because they are very unhappy in Ravan’s kingdom. They then claim their inheritance from the Father. For instance, when someone is beaten a lot by her husband she would feel it is better to take refuge with Baba. However, to leave your home and family is not like going to your aunty’s home! It takes effort. Although sannyasis renounce everything, they don’t forget their friends and relatives. Some even go back home. It requires effort; they’re not able to have yoga with the brahm element that quickly! Here, you know that this is an old world and that the relationships are also old. You have to renounce everything, including your body. That is why you have disinterest in this old world. You even have disinterest in your old body. This is unlimited disinterest, whereas theirs is limited, rajoguni disinterest. This is unlimited, satopradhan disinterest. We don’t leave the world. You are making effort to go from the old world to the new world. Those people don’t believe that they will go to the new world and experience happiness. This happiness is for you. Their renunciation is rajopradhan, whereas your renunciation is satopradhan. You children have to become satopradhan. Alloy will be burnt away by your having yoga. Therefore, this is called the fire of yoga. It doesn’t seem right to say the ‘fire of remembrance’. “Fire of yoga in which sins are burnt away” is said. It is a very easy matter, but children repeatedly say: Baba, I forget! The Father says: Children, become soul conscious. You remain soul conscious from the golden age to the silver age. For half the cycle, you were soul conscious and then, for half the cycle, you became body conscious. Therefore, you now find that it requires effort to become soul conscious. In the golden age you understand that you shed a body and take another. There is the example of the snake. That example is for you. Sannyasis want to merge into the element of light, but they don’t know that they have to come and take another costume again. You know that you will shed your old body and then take a new one. You have the desire to shed your old clothes. The example of the tortoise is also for you. While performing actions, continue to remember the Father. The Father Himself is the Bestower of Salvation. The Bestower of Salvation is only one Shiv Baba and none other. All of you souls are the children of Shiv Baba and also the children of Prajapita Brahma. First of all, there are Brahmins. Then the tree continues to grow. This is the tree of the variety of religions. First of all, there is the deity religion, then those of Islam come and then the Buddhists etc. The branches and twigs continue to emerge. When new branches emerge, they are praised. Then their strength continues to decrease. You are those who have a lot of strength and become the masters of the world. There are no ministers etc. there; it is the rule of kings. Advisers come in the copper age. There are no kings or queens now. This too is the predestined drama. Bharat was heaven and it is now hell. Hell is also satopradhan at first and hell which has now become tamopradhan, is called the extreme depths of hell. The Father says: I have to make so much effort! I have so much concern to see that some children don’t fall into the hands of bandits. The world is very dirty. Many dirty impure people come to the centres. They become trapped in name and form. There are many types of obstacle created in the yagya. Maya also causes obstacles. Then they choke a great deal. Nevertheless, you have to remember the Father. You have to stand on the battlefield and fight. You mustn’t be afraid. Many children divorce the Father. Some children took sustenance from the Father for so many years and then they got married and went away somewhere. There are those who were amazed and then ran away. It is then said to be the destiny of the drama and then Baba becomes silent. Children who remain engaged in service experience a lot of happiness. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to take refuge with the Father, make your intellect have unlimited renunciation. Forget the old world and bodies and make effort to remain soul conscious.
  2. Maintain the intoxication that we Brahmins are those who fulfil the desires of everyone.
Blessing: May you be an intense effort-maker and remain light with no burden of waste by having the awareness of your form of light.
Those who maintain the awareness of their original form of light have the power to transform anything wasteful into something powerful. They easily transform any waste of time, wasteful company and wasteful atmosphere and remain double light. Along with this, they also remain light in their relationships with the Brahmin family and also in service. They do not have any connection with their old sanskars or the old world. They cannot be attracted to any bodily beings or objects. Such intense effort-making children easily attain their angelic stage.
Slogan: In order to become a carefree emperor, surrender your body, mind and wealth to God.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 11 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 December 2017

To Read Murli 10 December 2017 :- Click Here
11/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम सभी मनुष्य मात्र के कल्याणकारी हो, तुम्हें बहुतों का कल्याण करना है, अशरीरी बनने के अभ्यास के साथ-साथ सर्विस भी जरूर करनी है”
प्रश्नः- किस एक बात में बाप भी ड्रामा की भावी कह चुप हो जाते हैं?
उत्तर:- बच्चे, जो बहुत समय तक बाप की पालना ली फिर माया के वश हो जाते हैं। शादी कर कहाँ का कहाँ चले जाते हैं। आश्चर्यवत भागन्ती हो जाते हैं तो बाप ड्रामा की भावी कह चुप हो जाते हैं। बाप जानते हैं यह भी यज्ञ में विघ्न पड़ते हैं। बाप को ओना रहता है बच्चे, कहाँ किसी के नाम-रूप में नहीं फंस जायें। माया बहुत विघ्न डालती है इसलिए बाबा राय देते हैं बच्चे, तुम्हें माया से डरना नहीं है। बाप की याद से विजयी बनना है।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चे जानते हैं कि हम बाप और दादा के सामने बैठे हैं। हर एक बात नई है और याद करना है श्रीमत पर एक ही बाप को। बाप श्रीमत देते हैं दादा के तन द्वारा। घड़ी-घड़ी बच्चों को सावधानी मिलती है कि मनमनाभव अर्थात् बाप को याद करो। इस दादा को याद नहीं करना है। दादा की आत्मा भी बाप को याद करती है तो तुमको भी याद करना है। तुम आत्मा अशरीरी हो, मैं भी अशरीरी हूँ सिर्फ तुमको इस तन द्वारा पढ़ा रहा हूँ। यह कोई सर्वशक्तिमान नहीं है। सर्वशक्तिमान एक ही बाप है। भल तुम विश्व के मालिक बनते हो परन्तु तुमको सर्वशक्तिमान नहीं कहेंगे। सर्वशक्तिमान द्वारा तुम रावण पर जीत पाकर फिर से अपना राज्य पद लेते हो। बाप का फरमान है कि मुझ अपने बाप को याद करो। तुम झाड़ के आदि-मध्य-अन्त का राज़ समझ गये हो। अभी तुम कितने समझदार बने हो अर्थात् बुद्धि में नॉलेज है। इस नॉलेज से तुमको बहुत ऊंच पद मिलता है। नर से नारायण बनते हो। यह राजयोग की पढ़ाई है। कल्प पहले भी तुमने यह पढ़ाई पढ़ी है। एम आब्जेक्ट सामने खड़ी है फिर जो जितना पुरुषार्थ करे। पुरुषार्थ बहुत करना चाहिए और है भी बहुत सहज। अपने घर को जानना, यह कोई मुश्किल नहीं है। हम आत्मा अशरीरी हैं। शान्तिधाम में रहते हैं। वहाँ मन की शान्ति आदि नहीं कहेंगे, मन की शान्ति, वास्तव में यह अक्षर कहना भी रांग है। मन तो घोड़ा है। जब तक शरीर है आत्मा के साथ, तो मन शान्त हो नहीं हो सकता। कर्म तो करना ही है। अल्पकाल की शान्ति तो रात्रि को नींद में होती है। आत्मा कर्मेन्द्रियों से काम करते-करते थक जाती है तो अशरीरी हो जाती है। आत्मा कहती है मुझे नींद आती है। मैं थक गया हूँ। तो आत्मा अशरीरी हो जाती है। अभी बाप को याद करना है तो विकर्म विनाश होंगे। सो जाने से कोई विकर्म विनाश नहीं होंगे। यह तो बाप को याद करने का पुरुषार्थ करना है, जो पुरुषार्थ बहुत जरूरी है। घड़ी-घड़ी बाप कहते हैं मुझे याद करो। जितना जो सर्विस करेंगे, अपनी ही प्रजा बनायेंगे। ढेर की ढेर प्रजा बनानी है, बहुतों का कल्याणकारी बनना है। तुम मनुष्य मात्र के कल्याणकारी हो। रावण राज्य में कोई भी किसका कल्याण नहीं करते। मनुष्य जब दान-पुण्य करते हैं, समझते हैं हम अच्छा कर्म करते हैं। जैसे तुम कहते हो इस लड़ाई से वैकुण्ठ के द्वार खुलते हैं। यह बहुत अच्छी लड़ाई है। तुम ब्राह्मण अभी ज्ञानी तू आत्मा बने हो। जिनमें 5 विकार प्रवेश हैं वह देवता कैसे बन सकेंगे। नर से नारायण बनने के लिए अच्छी मेहनत चाहिए। बेहद का पुरुषार्थ करना है। ऐसा ऊंचा पद बाप के सिवाए कोई प्राप्त करा नहीं सकता। कोई राजयोग सिखला न सके। तुम लक्ष्मी-नारायण की बायोग्राफी को भी जानते हो। उन्होंने यह राज्य कैसे लिया? कहाँ से लिया? किसको जीता? तुम सबको समझाते हो – कि अभी राजयोग सीखकर हम लक्ष्मी-नारायण जैसा बन रहे हैं। स्वयं भगवान नर से नारायण बनने की पढ़ाई पढ़ाते हैं। तो तुम बच्चों को बहुत नशा होना चाहिए।

बाप ने समझाया है – यह ब्राह्मण धर्म परमपिता परमात्मा ही स्थापन करते हैं। अब ब्राह्मण धर्म कहाँ होता है? क्या सतयुग में? नहीं। जरूर यहाँ होगा। प्रजापिता भी यहाँ ठहरा। बाप ने ब्राह्मण धर्म स्थापन किया और ब्रह्मा मुख वंशावली रची। खुद कहते हैं मैं बहुत जन्मों के अन्त के साधारण मनुष्य तन में प्रवेश करता हूँ। वह अपने जन्मों को नहीं जानते। कहते हैं ब्रह्मा को यहाँ क्यों रखा है? अरे प्रजापिता तो यहाँ होना चाहिए। समझते हैं सूक्ष्मवतनवासी देवता यहाँ कैसे हो सकता है! प्रजापिता ब्रह्मा के 84 जन्मों का राज़ बाप बैठ समझाते हैं। यह है अन्तिम जन्म, इसमें ही आना पड़ेगा। जो आदि में है सो अन्त में होगा। यह सब राज़ बाप ही समझाते हैं। यह चित्र भी शिवबाबा ने दिव्य दृष्टि से बनवाये हैं। बाबा ने डायरेक्शन दिया कि कल्प 5 हजार वर्ष का है – यह सिद्ध कर बताना है। यह स्वर्ग-नर्क के चित्र बाबा ने बनवाये हैं। गीता में यह थोड़ेही लिखा हुआ है कि परमपिता परमात्मा ने पढ़ाया है। देखो समझाने में कितनी मेहनत लगती है। दिन-प्रतिदिन समझानी मिलती रहती है। जो कल्प पहले जिस समय समझाया, उस समय अभी भी समझाते हैं। मुझ आत्मा में जो पार्ट नूँधा हुआ है, वह रिपीट होता है। यह तो तुम समझते हो कि यह पतित दुनिया है। सबका अन्तिम जन्म है। अभी नाटक पूरा होता है। नहीं तो सतयुग से दैवी धर्म कैसे स्थापन होगा। सतयुग में है एक अद्वैत देवी-देवता धर्म। इस समय तुम्हारा है ब्राह्मण धर्म। विराट रूप का राज़ भी समझाया है। ब्राह्मण माना चोटी, फिर ब्राह्मण ही देवता बनते हैं। मनुष्यों को यह पता ही नहीं है कि शिवबाबा ब्राह्मण धर्म रचते हैं। अभी तुम ट्रांसफर होते हो। शूद्र से ब्राह्मण, नीचे से आसमान में चले जाते हो। आत्माओं को अब घर जाना है।

मनुष्य देवियों के मन्दिर में जाते हैं तो यह नहीं जानते हैं कि जगत अम्बा कौन है? वह भी ब्राह्मणी है। तुम भी ब्राह्मणियाँ हो। जगत अम्बा और जगत पिता भी है, जो जिसका पुजारी होगा उनका मन्दिर बनायेगा। नॉलेज कुछ भी नहीं है कि जगत अम्बा कौन है। वह है ज्ञान ज्ञानेश्वरी, जो फिर राज-राजेश्वरी बनती है। देवियों की बहुत पूजा होती है। सतयुग में हैं लक्ष्मी-नारायण, त्रेता में हैं राम-सीता। बाकी सब इस समय के चित्र हैं। अनेक चित्र हैं, अनेक मन्दिर बनाये हैं। तुम जानते हो ब्रह्मा सरस्वती ब्राह्मण और ब्राह्मणियाँ हैं। लक्ष्मी को ब्राह्मणी नहीं कहेंगे, वह देवता है। जब ब्राह्मणी है तो सब मनोकामनायें पूर्ण करती है – 21 जन्मों के लिए। जब लक्ष्मी बनती है तो ग्रेड कम हो जाता है। अभी तुम ईश्वर की सन्तान हो। तुम्हारी ग्रेड ऊंची है। इन बातों को कोई मनुष्य नहीं समझ सकते। तुम हो ब्राह्मण कुल भूषण। अभी तुम ईश्वर के बने हो फिर देवता कुल में जायेंगे। यह संगमयुग कल्याणकारी है। बाप भारत को स्वर्ग बनाते हैं। भारत ही प्राचीन हेविन था, परन्तु किसकी बुद्धि में नहीं बैठता। भारतवासियों को मालूम पड़े तो खुश हो जायें कि हम स्वर्ग के मालिक थे। कोई मरता है तो कहते हैं स्वर्ग गया। हेविनली गॉड फादर ही हेविन बनाते हैं। मूलवतन तो है ही। उसके लिए स्थापना अक्षर नहीं आयेगा। स्थापना धर्म की होती है। वह आत्माओं का घर है जो इस समय खाली होता है, फिर नम्बरवार सब जायेंगे। यह बच्चों की बुद्धि में बिठाना है औरों को समझाने लिए। धर्म स्थापन अर्थ जो भी आत्मायें आती हैं वह फिर सतो रजो तमो में आती हैं। तुमको अब ऊपर जाना है। तुम्हारी चढ़ती कला है। तुम रूहानी ब्राह्मण मुखवंशावली हो। वह हैं कुख वंशावली, जिस्मानी ब्राह्मण। वह जिस्मानी तीर्थ कराते हैं, कथा सुनाते हैं। तुम ब्राह्मण सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ समझाने वाले हो। जिस्मानी ब्राह्मण भी यहाँ आते हैं – उन्हों को जब मालूम पड़ता है कि सच्चे ब्राह्मण बरोबर यह हैं तब समझते हैं हम बरोबर झूठी कथायें सुनाते हैं। उन्हों के कच्छ में है कुरम, तुम्हारी बुद्धि में है नॉलेज। वह शास्त्र पढ़कर सुनाते हैं और तुम्हारी बुद्धि में नॉलेज है, जैसे बाबा की बुद्धि में है। बाबा सत, चित, आनन्द स्वरूप, बीजरूप है और है भी निराकार। तुमको भी बुद्धि में नॉलेज धारण करनी है। नॉलेज डिफीकल्ट नहीं है, सिर्फ ध्यान देना है। ऐसे भी नहीं कोई घर-बार छोड़ना है। यह तो कारण बन जाते हैं। समझो बच्ची शादी करने नहीं चाहती है, बाप मारते हैं। परन्तु छोटी है भाग नहीं सकती। बालिग है तो आकर शरण लेती है। गाते हैं शरण पड़ी मैं तेरे क्योंकि रावण राज्य में बहुत दु:खी हैं। फिर बाप से वर्सा पाते हैं। समझो किसको पति बहुत मारता है, समझती है इससे जाकर बाबा की शरण लेवें। परन्तु घरबार छोड़ना मासी का घर नहीं है। मेहनत लगती है। सन्यासी भल सन्यास करते हैं परन्तु मित्र-सम्बन्धी कोई भूलते नहीं हैं। कई लौट भी आते हैं, मेहनत है। ब्रह्म तत्व से योग जल्दी नहीं लगता। यहाँ तुम जानते हो पुरानी दुनिया और पुराने सम्बन्ध हैं। देह सहित सब कुछ छोड़ना है, इसलिए तुमको इस पुरानी दुनिया से वैराग्य आता है। पुराने शरीर से भी तुमको वैराग्य है। यह है बेहद का वैराग्य। उन्हों का है हद का रजोगुणी वैराग्य। यह है बेहद का सतोप्रधान वैराग्य। दुनिया को नहीं छोड़ते हैं। तुम पुरुषार्थ कर रहे हो पुरानी दुनिया से नई दुनिया में जाने लिए। वह थोड़ेही ऐसे समझते हैं कि नई दुनिया में जाकर सुख भोगना है। यह सुख तुम्हारे लिए है। उन्हों का है रजोप्रधान सन्यास। तुम्हारा है सतोप्रधान सन्यास। बच्चों को सतोप्रधान बनना है। योग से खाद भस्म हो जायेगी इसलिए इसको योग अग्नि कहा जाता है। याद अग्नि यह अक्षर शोभता नहीं है। योग अग्नि कहा जाता है, जिससे विकर्म भस्म होंगे। है बहुत सहज बात। परन्तु घड़ी-घड़ी कहते हैं बाबा हम भूल जाते हैं। बाप कहते हैं – बच्चे देही-अभिमानी बनो। सतयुग से त्रेता तक तुम सोल कान्सेस रहते हो। तुम आधाकल्प सोल कान्सेस, आधाकल्प बॉडी कान्सेस बने हो। तो अब सोलकान्सेस बनने में मेहनत लगती है। सतयुग में समझते हैं हम एक शरीर छोड़ दूसरा लेते हैं। सर्प का मिसाल…. यह दृष्टान्त तुम्हारे लिए है। सन्यासी ज्योति ज्योत में समाने चाहते हैं। वह यह नहीं जानते हैं कि हमको फिर आकर नया चोला लेना है। तुम जानते हो यह बूढ़ा शरीर छोड़ जाकर नया लेंगे। पुराने कपड़े को छोड़ने का दिल होता है। कछुए का मिसाल भी तुम्हारे लिए है। कर्म करते बाप को याद करते रहो। बाप ही सद्गति दाता है। सद्गति दाता एक शिवबाबा दूसरा न कोई। तुम सब आत्मायें शिवबाबा के बच्चे फिर प्रजापिता ब्रह्मा की भी सन्तान हो। पहले हैं ब्राह्मण फिर झाड़ वृद्धि को पाता है। यह वैरायटी धर्मों का झाड़ है। पहले देवी-देवता धर्म फिर इस्लामी, बौद्धी फिर वृद्धि होती रहती है। टाल-टालियाँ निकलती रहती हैं। जब नये निकलते हैं तो उनकी महिमा होती है। पीछे ताकत कम होती जाती है। तुम हो बहुत बड़ी ताकत वाले, जो विश्व के मालिक बनते हो। वहाँ कोई मिनिस्टर आदि नहीं होते हैं। राजा का हुक्म चलता है। द्वापर से वजीर होते हैं। अब तो राजा-रानी हैं नहीं। यह भी ड्रामा बना बनाया है। भारत स्वर्ग था, अब नर्क है। नर्क भी पहले सतोप्रधान फिर अभी नर्क भी तमोप्रधान है, जिसको रौरव नर्क कहा जाता है। बाप कहते हैं – मुझे कितनी मेहनत करनी पड़ती है। कितना ओना रहता है, कहाँ कोई बच्चियां गुण्डों के हाथ में न आ जायें। दुनिया बहुत गन्दी है। सेन्टर पर गन्दे लोग आ जाते हैं। नाम रूप में फंस पड़ते हैं। यज्ञ में अनेक प्रकार के विघ्न भी पड़ते हैं। माया भी विघ्न डालती है। फिर बहुत घुटका खाते हैं। फिर भी बाप को याद करना पड़े। युद्ध के मैदान में खड़े होकर लड़ना है। डरना नहीं है। फारकती बहुत दे देते हैं। कितने वर्ष रह पालना ली, फिर शादी कर कहाँ न कहाँ चले गये। आश्चर्यवत भागन्ती हो जाते फिर भी ड्रामा की भावी कह चुप हो जाते हैं। सर्विस में रहने वालों को खुशी बहुत जास्ती रहती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप की शरण में आने के लिए बुद्धि से बेहद का सन्यास करना है। पुरानी दुनिया और देह को भूल आत्म-अभिमानी रहने की मेहनत करनी है।

2) हम ब्राह्मण सर्व की मनोकामनायें पूर्ण करने वाले हैं – इस नशे में रहना है।

वरदान:- लाइट स्वरूप की स्मृति द्वारा व्यर्थ के बोझ से हल्का रहने वाले तीव्र पुरूषार्थी भव 
जो अपने निज़ी लाइट स्वरूप की स्मृति में रहते हैं उनमें व्यर्थ को समर्थ में परिवर्तन करने की शक्ति होती है। वे व्यर्थ समय, व्यर्थ संग, व्यर्थ वातावरण को सहज परिवर्तन कर डबल लाइट रहते हैं। साथ-साथ ब्राह्मण परिवार के सम्बन्ध में, सेवा के संबंध में भी हल्के रहते हैं। उनका रिश्ता किसी भी पुराने संस्कार वा संसार से नहीं रहता। किसी देहधारी व्यक्ति या वस्तु की तरफ उनकी आकर्षण हो नहीं सकती। ऐसे तीव्र पुरूषार्थी बच्चे सहज ही फरिश्ते पन की स्थिति को प्राप्त कर लेते हैं।
स्लोगन:- बेफिक्र बादशाह बनना है तो तन-मन-धन को प्रभू समर्पित कर दो।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize