11 december 2017

TODAY MURLI 11 DECEMBER 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 11 DECEMBER 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 10 December 2017 :- Click Here

11/12/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are benefactors for all human beings. You have to benefit many. You must practise becoming bodiless and you must also definitely do service.
Question: In which one aspect does even the Father say that it is the destiny of the drama and He then becomes silent?
Answer: When children who have taken sustenance from the Father for a long time become influenced by Maya, get married and go away somewhere, when they become amazed and then leave, the Father says: It is the destiny of the drama and becomes silent. The Father knows that these are obstacles in the yagya. The Father is concerned that the children don’t become trapped in anyone’s name or form. Maya creates many obstacles. This is why Baba advises you: Children, you mustn’t be afraid of Maya. Become victorious by having remembrance of the Father.

Om shanti. You sweetest children know that you are sitting in front of Bap and Dada. Everything is new. According to shrimat, you have to remember the one Father alone. The Father gives you shrimat through the body of Dada. You children are repeatedly cautioned: “Manmanabhav! That is, Remember the Father! You mustn’t remember this Dada. The Dada soul remembers the Father. Therefore, you too have to remember Him. You souls are bodiless and I too am bodiless. It is just that I am teaching you through this body. He is not the Almighty Authority. Only the one Father is the Almighty Authority. Although you become the masters of the world, you cannot be called almighty authorities. You conquer Ravan through the Almighty Authority and claim your royal status once again. The Father’s order is: Remember Me, your Father. You have now understood the secrets of the beginning, the middle and the end of the tree. You have now become so sensible, that is, you have knowledge in your intellects. You receive a very high status through this knowledge: you become Narayan from an ordinary man. This is the study of Raja Yoga. You also studied this study in the previous cycle. Your aim and objective is in front of you and it then depends on how much effort each one of you makes. You have to make a lot of effort and it is very easy. It is not difficult to know your own home. We souls are bodiless and we reside in the land of peace. You would not say peace of mind there. In fact, it is wrong to use the words ‘peace of mind’. The mind is a horse. While a soul has a body, the mind cannot become peaceful; actions have to be performed. Temporary peace is experienced at night when sleeping. A soul becomes tired from doing everything through the physical organs and so he becomes bodiless. The soul says: I am feeling sleepy, I am tired. So the soul then becomes bodiless. You now have to remember the Father so that your sins are absolved. Your sins will not be absolved by going to sleep. You have to make effort to remember the Father for this. This effort is very essential. The Father repeatedly says: Remember Me! The more service you do, the more of your own subjects you will create. Many subjects have to be created. You have to become benefactors for many people. You are benefactors for all human beings. In Ravan’s kingdom no one benefits anyone. When human beings make donations and perform charity, they believe that they are performing good actions. You say that the gates to Paradise open through this war. This is a very good war. You Brahmins have now become knowledgeable souls. How can those who have the five vices in them become deities? In order to change from an ordinary man into Narayan, very good effort is required. You have to make unlimited effort. No one, apart from the Father, can enable you to attain such a high status. No one else can teach you Raja Yoga. You now also know the biography of Lakshmi and Narayan. How did they claim their kingdom? From where did they receive it? Whom did they conquer? You explain to everyone that you are now studying Raja Yoga and becoming like Lakshmi and Narayan. God Himself is teaching you the story of changing from an ordinary man into Narayan. So you children should have a lot of intoxication. The Father has explained that it is the Supreme Father, the Supreme Soul, who establishes this Brahmin religion. Where would the Brahmin religion exist? Would it exist in the golden age? No, it would definitely exist here. Prajapita also exists here. The Father established the Brahmin religion and created the mouth-born creation of Brahma. He Himself says: I enter the body of an ordinary human being at the end of his many births. He doesn’t know his own births. People ask: Why have you kept Brahma here? Oh, but Prajapita has to exist here. They wonder how Brahma, a deity of the subtle region, could exist here. The Father sits here and explains to you the secrets of the 84 births of Prajapita Brahma. This is the final birth. He has to enter this one. The one that exists at the beginning will also exist at the end. Only the Father explains all of these secrets. Shiv Baba has had these pictures created through divine vision. Baba gave the direction that you have to prove that the cycle is 5000 years. Baba has had the pictures of heaven and hell made. It is not written in the Gita that the Supreme Father, the Supreme Soul, taught you. Look, it takes so long to explain! You continue to receive explanations day by day. Whatever was explained to you in the previous cycle, that is being explained to you now at this time. The part that is recorded in me, the soul, repeats. You understand that this is the impure world. It is now the last birth of everyone. The drama is now coming to an end. How could the deity religion be established from the golden age? In the golden age there is just the one undivided deity religion. At this time, it is your Brahmin religion. The secrets of the variety-form image are also explained to you. “Brahmins” means the topknot and then Brahmins become deities. People don’t know that Shiv Baba creates the Brahmin religion. You are now being transferred (converted) from shudras into Brahmins; from down below you go up above the sky. Souls now have to return home. When people go to the temples of the goddesses they don’t know who Jagadamba is. She is a Brahmin and you are also Brahmins. There is Jagadamba and also Jagadpita. Whoever it is someone worships, he will build a temple to that one. People don’t have the know ledge as to who Jagadamba is. She is the goddess of knowledge, and she then becomes the princess. Goddesses are worshipped a great deal. Lakshmi and Narayan are in the golden age and Rama and Sita are in the silver age. All the rest are the pictures of this time. There are innumerable pictures. They have built innumerable temples. You know that Brahma and Saraswati are Brahmins. Lakshmi would not be called a Brahmin; she is a deity. When she is a Brahmin, she fulfils all desires for 21 births. When she becomes Lakshmi, her grade is reduced. You are now the children of God. Your grade is high. No human beings can understand these things. You are the decoration of the Brahmin clan and you now belong to God. You will then go into the deity clan. This confluence age is benevolent. The Father makes Bharat into heaven. Bharat was ancient heaven. However, this doesn’t sit in anyone’s intellect. If the people of Bharat were to know this, they would become happy that they were the masters of heaven. When a person dies, people say that he has gone to heaven. Only Heavenly God, the Fathe r , creates heaven. The incorporeal world exists anyway; you cannot use the word ‘establishment’ for that. It is a religion that is established. That is the home of souls which becomes empty at this time. Then all souls will go back, numberwise. This has to be made to sit in the intellects of children in order for them to explain to others. All the souls who come to establish a religion have to go through the stages of sato, rajo and tamo. You now have to go up above. It is now your stage of ascent. You are spiritual Brahmins, the mouth-born creation. Those people are physical brahmins who are a physical creation. They take you on physical pilgrimages and relate religious stories. You Brahmins are those who explain the secrets of the beginning, the middle and the end of the world. Physical brahmins also come here. When they become aware that you are the true Brahmins, they understand that they have been relating false stories. They have false scriptures under their arms and you have knowledge in your intellects. Everything they relate is from studying the scriptures, whereas you have knowledge in your intellects, just as Baba has it in His intellect. Baba is the Truth, the Living Being, the Blissful One and the Seed. He is incorporeal. Your intellects have to imbibe this knowledgeKnowledge is not difficult. You simply have to pay attention. It isn’t that you have to leave your homes and families. That is just an excuse. For instance, when a daughter doesn’t want to get married, her father beats her. However, because she is young, she cannot run away anywhere. When she becomes an adolescent she comes and takes refuge. It is sung: I came and took refuge with You… This is because they are very unhappy in Ravan’s kingdom. They then claim their inheritance from the Father. For instance, when someone is beaten a lot by her husband she would feel it is better to take refuge with Baba. However, to leave your home and family is not like going to your aunty’s home! It takes effort. Although sannyasis renounce everything, they don’t forget their friends and relatives. Some even go back home. It requires effort; they’re not able to have yoga with the brahm element that quickly! Here, you know that this is an old world and that the relationships are also old. You have to renounce everything, including your body. That is why you have disinterest in this old world. You even have disinterest in your old body. This is unlimited disinterest, whereas theirs is limited, rajoguni disinterest. This is unlimited, satopradhan disinterest. We don’t leave the world. You are making effort to go from the old world to the new world. Those people don’t believe that they will go to the new world and experience happiness. This happiness is for you. Their renunciation is rajopradhan, whereas your renunciation is satopradhan. You children have to become satopradhan. Alloy will be burnt away by your having yoga. Therefore, this is called the fire of yoga. It doesn’t seem right to say the ‘fire of remembrance’. “Fire of yoga in which sins are burnt away” is said. It is a very easy matter, but children repeatedly say: Baba, I forget! The Father says: Children, become soul conscious. You remain soul conscious from the golden age to the silver age. For half the cycle, you were soul conscious and then, for half the cycle, you became body conscious. Therefore, you now find that it requires effort to become soul conscious. In the golden age you understand that you shed a body and take another. There is the example of the snake. That example is for you. Sannyasis want to merge into the element of light, but they don’t know that they have to come and take another costume again. You know that you will shed your old body and then take a new one. You have the desire to shed your old clothes. The example of the tortoise is also for you. While performing actions, continue to remember the Father. The Father Himself is the Bestower of Salvation. The Bestower of Salvation is only one Shiv Baba and none other. All of you souls are the children of Shiv Baba and also the children of Prajapita Brahma. First of all, there are Brahmins. Then the tree continues to grow. This is the tree of the variety of religions. First of all, there is the deity religion, then those of Islam come and then the Buddhists etc. The branches and twigs continue to emerge. When new branches emerge, they are praised. Then their strength continues to decrease. You are those who have a lot of strength and become the masters of the world. There are no ministers etc. there; it is the rule of kings. Advisers come in the copper age. There are no kings or queens now. This too is the predestined drama. Bharat was heaven and it is now hell. Hell is also satopradhan at first and hell which has now become tamopradhan, is called the extreme depths of hell. The Father says: I have to make so much effort! I have so much concern to see that some children don’t fall into the hands of bandits. The world is very dirty. Many dirty impure people come to the centres. They become trapped in name and form. There are many types of obstacle created in the yagya. Maya also causes obstacles. Then they choke a great deal. Nevertheless, you have to remember the Father. You have to stand on the battlefield and fight. You mustn’t be afraid. Many children divorce the Father. Some children took sustenance from the Father for so many years and then they got married and went away somewhere. There are those who were amazed and then ran away. It is then said to be the destiny of the drama and then Baba becomes silent. Children who remain engaged in service experience a lot of happiness. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to take refuge with the Father, make your intellect have unlimited renunciation. Forget the old world and bodies and make effort to remain soul conscious.
  2. Maintain the intoxication that we Brahmins are those who fulfil the desires of everyone.
Blessing: May you be an intense effort-maker and remain light with no burden of waste by having the awareness of your form of light.
Those who maintain the awareness of their original form of light have the power to transform anything wasteful into something powerful. They easily transform any waste of time, wasteful company and wasteful atmosphere and remain double light. Along with this, they also remain light in their relationships with the Brahmin family and also in service. They do not have any connection with their old sanskars or the old world. They cannot be attracted to any bodily beings or objects. Such intense effort-making children easily attain their angelic stage.
Slogan: In order to become a carefree emperor, surrender your body, mind and wealth to God.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 11 DECEMBER 2017 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 December 2017

To Read Murli 10 December 2017 :- Click Here
11/12/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम सभी मनुष्य मात्र के कल्याणकारी हो, तुम्हें बहुतों का कल्याण करना है, अशरीरी बनने के अभ्यास के साथ-साथ सर्विस भी जरूर करनी है”
प्रश्नः- किस एक बात में बाप भी ड्रामा की भावी कह चुप हो जाते हैं?
उत्तर:- बच्चे, जो बहुत समय तक बाप की पालना ली फिर माया के वश हो जाते हैं। शादी कर कहाँ का कहाँ चले जाते हैं। आश्चर्यवत भागन्ती हो जाते हैं तो बाप ड्रामा की भावी कह चुप हो जाते हैं। बाप जानते हैं यह भी यज्ञ में विघ्न पड़ते हैं। बाप को ओना रहता है बच्चे, कहाँ किसी के नाम-रूप में नहीं फंस जायें। माया बहुत विघ्न डालती है इसलिए बाबा राय देते हैं बच्चे, तुम्हें माया से डरना नहीं है। बाप की याद से विजयी बनना है।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चे जानते हैं कि हम बाप और दादा के सामने बैठे हैं। हर एक बात नई है और याद करना है श्रीमत पर एक ही बाप को। बाप श्रीमत देते हैं दादा के तन द्वारा। घड़ी-घड़ी बच्चों को सावधानी मिलती है कि मनमनाभव अर्थात् बाप को याद करो। इस दादा को याद नहीं करना है। दादा की आत्मा भी बाप को याद करती है तो तुमको भी याद करना है। तुम आत्मा अशरीरी हो, मैं भी अशरीरी हूँ सिर्फ तुमको इस तन द्वारा पढ़ा रहा हूँ। यह कोई सर्वशक्तिमान नहीं है। सर्वशक्तिमान एक ही बाप है। भल तुम विश्व के मालिक बनते हो परन्तु तुमको सर्वशक्तिमान नहीं कहेंगे। सर्वशक्तिमान द्वारा तुम रावण पर जीत पाकर फिर से अपना राज्य पद लेते हो। बाप का फरमान है कि मुझ अपने बाप को याद करो। तुम झाड़ के आदि-मध्य-अन्त का राज़ समझ गये हो। अभी तुम कितने समझदार बने हो अर्थात् बुद्धि में नॉलेज है। इस नॉलेज से तुमको बहुत ऊंच पद मिलता है। नर से नारायण बनते हो। यह राजयोग की पढ़ाई है। कल्प पहले भी तुमने यह पढ़ाई पढ़ी है। एम आब्जेक्ट सामने खड़ी है फिर जो जितना पुरुषार्थ करे। पुरुषार्थ बहुत करना चाहिए और है भी बहुत सहज। अपने घर को जानना, यह कोई मुश्किल नहीं है। हम आत्मा अशरीरी हैं। शान्तिधाम में रहते हैं। वहाँ मन की शान्ति आदि नहीं कहेंगे, मन की शान्ति, वास्तव में यह अक्षर कहना भी रांग है। मन तो घोड़ा है। जब तक शरीर है आत्मा के साथ, तो मन शान्त हो नहीं हो सकता। कर्म तो करना ही है। अल्पकाल की शान्ति तो रात्रि को नींद में होती है। आत्मा कर्मेन्द्रियों से काम करते-करते थक जाती है तो अशरीरी हो जाती है। आत्मा कहती है मुझे नींद आती है। मैं थक गया हूँ। तो आत्मा अशरीरी हो जाती है। अभी बाप को याद करना है तो विकर्म विनाश होंगे। सो जाने से कोई विकर्म विनाश नहीं होंगे। यह तो बाप को याद करने का पुरुषार्थ करना है, जो पुरुषार्थ बहुत जरूरी है। घड़ी-घड़ी बाप कहते हैं मुझे याद करो। जितना जो सर्विस करेंगे, अपनी ही प्रजा बनायेंगे। ढेर की ढेर प्रजा बनानी है, बहुतों का कल्याणकारी बनना है। तुम मनुष्य मात्र के कल्याणकारी हो। रावण राज्य में कोई भी किसका कल्याण नहीं करते। मनुष्य जब दान-पुण्य करते हैं, समझते हैं हम अच्छा कर्म करते हैं। जैसे तुम कहते हो इस लड़ाई से वैकुण्ठ के द्वार खुलते हैं। यह बहुत अच्छी लड़ाई है। तुम ब्राह्मण अभी ज्ञानी तू आत्मा बने हो। जिनमें 5 विकार प्रवेश हैं वह देवता कैसे बन सकेंगे। नर से नारायण बनने के लिए अच्छी मेहनत चाहिए। बेहद का पुरुषार्थ करना है। ऐसा ऊंचा पद बाप के सिवाए कोई प्राप्त करा नहीं सकता। कोई राजयोग सिखला न सके। तुम लक्ष्मी-नारायण की बायोग्राफी को भी जानते हो। उन्होंने यह राज्य कैसे लिया? कहाँ से लिया? किसको जीता? तुम सबको समझाते हो – कि अभी राजयोग सीखकर हम लक्ष्मी-नारायण जैसा बन रहे हैं। स्वयं भगवान नर से नारायण बनने की पढ़ाई पढ़ाते हैं। तो तुम बच्चों को बहुत नशा होना चाहिए।

बाप ने समझाया है – यह ब्राह्मण धर्म परमपिता परमात्मा ही स्थापन करते हैं। अब ब्राह्मण धर्म कहाँ होता है? क्या सतयुग में? नहीं। जरूर यहाँ होगा। प्रजापिता भी यहाँ ठहरा। बाप ने ब्राह्मण धर्म स्थापन किया और ब्रह्मा मुख वंशावली रची। खुद कहते हैं मैं बहुत जन्मों के अन्त के साधारण मनुष्य तन में प्रवेश करता हूँ। वह अपने जन्मों को नहीं जानते। कहते हैं ब्रह्मा को यहाँ क्यों रखा है? अरे प्रजापिता तो यहाँ होना चाहिए। समझते हैं सूक्ष्मवतनवासी देवता यहाँ कैसे हो सकता है! प्रजापिता ब्रह्मा के 84 जन्मों का राज़ बाप बैठ समझाते हैं। यह है अन्तिम जन्म, इसमें ही आना पड़ेगा। जो आदि में है सो अन्त में होगा। यह सब राज़ बाप ही समझाते हैं। यह चित्र भी शिवबाबा ने दिव्य दृष्टि से बनवाये हैं। बाबा ने डायरेक्शन दिया कि कल्प 5 हजार वर्ष का है – यह सिद्ध कर बताना है। यह स्वर्ग-नर्क के चित्र बाबा ने बनवाये हैं। गीता में यह थोड़ेही लिखा हुआ है कि परमपिता परमात्मा ने पढ़ाया है। देखो समझाने में कितनी मेहनत लगती है। दिन-प्रतिदिन समझानी मिलती रहती है। जो कल्प पहले जिस समय समझाया, उस समय अभी भी समझाते हैं। मुझ आत्मा में जो पार्ट नूँधा हुआ है, वह रिपीट होता है। यह तो तुम समझते हो कि यह पतित दुनिया है। सबका अन्तिम जन्म है। अभी नाटक पूरा होता है। नहीं तो सतयुग से दैवी धर्म कैसे स्थापन होगा। सतयुग में है एक अद्वैत देवी-देवता धर्म। इस समय तुम्हारा है ब्राह्मण धर्म। विराट रूप का राज़ भी समझाया है। ब्राह्मण माना चोटी, फिर ब्राह्मण ही देवता बनते हैं। मनुष्यों को यह पता ही नहीं है कि शिवबाबा ब्राह्मण धर्म रचते हैं। अभी तुम ट्रांसफर होते हो। शूद्र से ब्राह्मण, नीचे से आसमान में चले जाते हो। आत्माओं को अब घर जाना है।

मनुष्य देवियों के मन्दिर में जाते हैं तो यह नहीं जानते हैं कि जगत अम्बा कौन है? वह भी ब्राह्मणी है। तुम भी ब्राह्मणियाँ हो। जगत अम्बा और जगत पिता भी है, जो जिसका पुजारी होगा उनका मन्दिर बनायेगा। नॉलेज कुछ भी नहीं है कि जगत अम्बा कौन है। वह है ज्ञान ज्ञानेश्वरी, जो फिर राज-राजेश्वरी बनती है। देवियों की बहुत पूजा होती है। सतयुग में हैं लक्ष्मी-नारायण, त्रेता में हैं राम-सीता। बाकी सब इस समय के चित्र हैं। अनेक चित्र हैं, अनेक मन्दिर बनाये हैं। तुम जानते हो ब्रह्मा सरस्वती ब्राह्मण और ब्राह्मणियाँ हैं। लक्ष्मी को ब्राह्मणी नहीं कहेंगे, वह देवता है। जब ब्राह्मणी है तो सब मनोकामनायें पूर्ण करती है – 21 जन्मों के लिए। जब लक्ष्मी बनती है तो ग्रेड कम हो जाता है। अभी तुम ईश्वर की सन्तान हो। तुम्हारी ग्रेड ऊंची है। इन बातों को कोई मनुष्य नहीं समझ सकते। तुम हो ब्राह्मण कुल भूषण। अभी तुम ईश्वर के बने हो फिर देवता कुल में जायेंगे। यह संगमयुग कल्याणकारी है। बाप भारत को स्वर्ग बनाते हैं। भारत ही प्राचीन हेविन था, परन्तु किसकी बुद्धि में नहीं बैठता। भारतवासियों को मालूम पड़े तो खुश हो जायें कि हम स्वर्ग के मालिक थे। कोई मरता है तो कहते हैं स्वर्ग गया। हेविनली गॉड फादर ही हेविन बनाते हैं। मूलवतन तो है ही। उसके लिए स्थापना अक्षर नहीं आयेगा। स्थापना धर्म की होती है। वह आत्माओं का घर है जो इस समय खाली होता है, फिर नम्बरवार सब जायेंगे। यह बच्चों की बुद्धि में बिठाना है औरों को समझाने लिए। धर्म स्थापन अर्थ जो भी आत्मायें आती हैं वह फिर सतो रजो तमो में आती हैं। तुमको अब ऊपर जाना है। तुम्हारी चढ़ती कला है। तुम रूहानी ब्राह्मण मुखवंशावली हो। वह हैं कुख वंशावली, जिस्मानी ब्राह्मण। वह जिस्मानी तीर्थ कराते हैं, कथा सुनाते हैं। तुम ब्राह्मण सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का राज़ समझाने वाले हो। जिस्मानी ब्राह्मण भी यहाँ आते हैं – उन्हों को जब मालूम पड़ता है कि सच्चे ब्राह्मण बरोबर यह हैं तब समझते हैं हम बरोबर झूठी कथायें सुनाते हैं। उन्हों के कच्छ में है कुरम, तुम्हारी बुद्धि में है नॉलेज। वह शास्त्र पढ़कर सुनाते हैं और तुम्हारी बुद्धि में नॉलेज है, जैसे बाबा की बुद्धि में है। बाबा सत, चित, आनन्द स्वरूप, बीजरूप है और है भी निराकार। तुमको भी बुद्धि में नॉलेज धारण करनी है। नॉलेज डिफीकल्ट नहीं है, सिर्फ ध्यान देना है। ऐसे भी नहीं कोई घर-बार छोड़ना है। यह तो कारण बन जाते हैं। समझो बच्ची शादी करने नहीं चाहती है, बाप मारते हैं। परन्तु छोटी है भाग नहीं सकती। बालिग है तो आकर शरण लेती है। गाते हैं शरण पड़ी मैं तेरे क्योंकि रावण राज्य में बहुत दु:खी हैं। फिर बाप से वर्सा पाते हैं। समझो किसको पति बहुत मारता है, समझती है इससे जाकर बाबा की शरण लेवें। परन्तु घरबार छोड़ना मासी का घर नहीं है। मेहनत लगती है। सन्यासी भल सन्यास करते हैं परन्तु मित्र-सम्बन्धी कोई भूलते नहीं हैं। कई लौट भी आते हैं, मेहनत है। ब्रह्म तत्व से योग जल्दी नहीं लगता। यहाँ तुम जानते हो पुरानी दुनिया और पुराने सम्बन्ध हैं। देह सहित सब कुछ छोड़ना है, इसलिए तुमको इस पुरानी दुनिया से वैराग्य आता है। पुराने शरीर से भी तुमको वैराग्य है। यह है बेहद का वैराग्य। उन्हों का है हद का रजोगुणी वैराग्य। यह है बेहद का सतोप्रधान वैराग्य। दुनिया को नहीं छोड़ते हैं। तुम पुरुषार्थ कर रहे हो पुरानी दुनिया से नई दुनिया में जाने लिए। वह थोड़ेही ऐसे समझते हैं कि नई दुनिया में जाकर सुख भोगना है। यह सुख तुम्हारे लिए है। उन्हों का है रजोप्रधान सन्यास। तुम्हारा है सतोप्रधान सन्यास। बच्चों को सतोप्रधान बनना है। योग से खाद भस्म हो जायेगी इसलिए इसको योग अग्नि कहा जाता है। याद अग्नि यह अक्षर शोभता नहीं है। योग अग्नि कहा जाता है, जिससे विकर्म भस्म होंगे। है बहुत सहज बात। परन्तु घड़ी-घड़ी कहते हैं बाबा हम भूल जाते हैं। बाप कहते हैं – बच्चे देही-अभिमानी बनो। सतयुग से त्रेता तक तुम सोल कान्सेस रहते हो। तुम आधाकल्प सोल कान्सेस, आधाकल्प बॉडी कान्सेस बने हो। तो अब सोलकान्सेस बनने में मेहनत लगती है। सतयुग में समझते हैं हम एक शरीर छोड़ दूसरा लेते हैं। सर्प का मिसाल…. यह दृष्टान्त तुम्हारे लिए है। सन्यासी ज्योति ज्योत में समाने चाहते हैं। वह यह नहीं जानते हैं कि हमको फिर आकर नया चोला लेना है। तुम जानते हो यह बूढ़ा शरीर छोड़ जाकर नया लेंगे। पुराने कपड़े को छोड़ने का दिल होता है। कछुए का मिसाल भी तुम्हारे लिए है। कर्म करते बाप को याद करते रहो। बाप ही सद्गति दाता है। सद्गति दाता एक शिवबाबा दूसरा न कोई। तुम सब आत्मायें शिवबाबा के बच्चे फिर प्रजापिता ब्रह्मा की भी सन्तान हो। पहले हैं ब्राह्मण फिर झाड़ वृद्धि को पाता है। यह वैरायटी धर्मों का झाड़ है। पहले देवी-देवता धर्म फिर इस्लामी, बौद्धी फिर वृद्धि होती रहती है। टाल-टालियाँ निकलती रहती हैं। जब नये निकलते हैं तो उनकी महिमा होती है। पीछे ताकत कम होती जाती है। तुम हो बहुत बड़ी ताकत वाले, जो विश्व के मालिक बनते हो। वहाँ कोई मिनिस्टर आदि नहीं होते हैं। राजा का हुक्म चलता है। द्वापर से वजीर होते हैं। अब तो राजा-रानी हैं नहीं। यह भी ड्रामा बना बनाया है। भारत स्वर्ग था, अब नर्क है। नर्क भी पहले सतोप्रधान फिर अभी नर्क भी तमोप्रधान है, जिसको रौरव नर्क कहा जाता है। बाप कहते हैं – मुझे कितनी मेहनत करनी पड़ती है। कितना ओना रहता है, कहाँ कोई बच्चियां गुण्डों के हाथ में न आ जायें। दुनिया बहुत गन्दी है। सेन्टर पर गन्दे लोग आ जाते हैं। नाम रूप में फंस पड़ते हैं। यज्ञ में अनेक प्रकार के विघ्न भी पड़ते हैं। माया भी विघ्न डालती है। फिर बहुत घुटका खाते हैं। फिर भी बाप को याद करना पड़े। युद्ध के मैदान में खड़े होकर लड़ना है। डरना नहीं है। फारकती बहुत दे देते हैं। कितने वर्ष रह पालना ली, फिर शादी कर कहाँ न कहाँ चले गये। आश्चर्यवत भागन्ती हो जाते फिर भी ड्रामा की भावी कह चुप हो जाते हैं। सर्विस में रहने वालों को खुशी बहुत जास्ती रहती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप की शरण में आने के लिए बुद्धि से बेहद का सन्यास करना है। पुरानी दुनिया और देह को भूल आत्म-अभिमानी रहने की मेहनत करनी है।

2) हम ब्राह्मण सर्व की मनोकामनायें पूर्ण करने वाले हैं – इस नशे में रहना है।

वरदान:- लाइट स्वरूप की स्मृति द्वारा व्यर्थ के बोझ से हल्का रहने वाले तीव्र पुरूषार्थी भव 
जो अपने निज़ी लाइट स्वरूप की स्मृति में रहते हैं उनमें व्यर्थ को समर्थ में परिवर्तन करने की शक्ति होती है। वे व्यर्थ समय, व्यर्थ संग, व्यर्थ वातावरण को सहज परिवर्तन कर डबल लाइट रहते हैं। साथ-साथ ब्राह्मण परिवार के सम्बन्ध में, सेवा के संबंध में भी हल्के रहते हैं। उनका रिश्ता किसी भी पुराने संस्कार वा संसार से नहीं रहता। किसी देहधारी व्यक्ति या वस्तु की तरफ उनकी आकर्षण हो नहीं सकती। ऐसे तीव्र पुरूषार्थी बच्चे सहज ही फरिश्ते पन की स्थिति को प्राप्त कर लेते हैं।
स्लोगन:- बेफिक्र बादशाह बनना है तो तन-मन-धन को प्रभू समर्पित कर दो।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

Font Resize