11 august ki murli

TODAY MURLI 11 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 11 August 2020

11/08/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, your aim and objective is to become the masters of the wonderful, colourful world (of heaven). Therefore, remain constantly cheerful in that happiness and don’t wilt.
Question: What enthusiasm would the fortunate children constantly have?
Answer: The unlimited Father is teaching us in order to make us into princes and princesses of the new world. You can explain to everyone with the same enthusiasm that heaven is merged in this war. It will be after this war that the gates to heaven open. Remain in this happiness and also explain to others with great happiness.
Song: Baba, the world is very colourful.

Om shanti. Who said to Baba that this is a colourful world? No one else can understand the meaning of this. The Father has now explained that this play is very colourful. In films, etc. there are very colourful scenes and scenery. Now, no one knows this unlimited world. Among you too, the knowledge that you have of the beginning, the middle and the end of the whole world is numberwise according to your efforts. You understand how colourful heaven is, how beautiful it is. No one else knows this. It is not in anyone’s intellect how colourful and wonderful that world is. There is praise of the wonders of the world. Only you know this. You are the ones who make effort, according to your own fortune, for that wonder of the world. That is your aim and objective. That is the wonder of the world; it is a very colourful world, where there are palaces studded with diamonds and jewels. You go to wonderful Paradise in just a second. You play and dance etc. It is definitely a wonderful world. Here, it is the kingdom of Maya. This too is so wonderful! Human beings do all sorts of things. No one in the world knows that we are performing a drama. If they understood that this is a drama, they would also have the knowledge of the beginning, the middle and the end of the drama. You children understand that the Father is so simple. Maya makes you forget everything completely. She grabs hold of you by the nose and makes you forget everything. One moment, you are in remembrance and very cheerful: “Oho! We are becoming the masters of heaven, the wonder of the world”. Then, the next moment, you forget this and wilt. Some wilt so much! Even the bheels (poor ones) don’t wilt as much. It is as though they don’t even understand that they are going to heaven, that the unlimited Father is teaching us. It is as though they become complete corpses. That happiness and intoxication doesn’t remain. The establishment of the wonder of the world is now taking place. Shri Krishna was the prince of the wonder of the world. You also understand this. Those who are clever in knowledge would explain about the birthday of Krishna (Janamashtmi). Shri Krishna was the prince of the wonder of the world. Where did that golden age go to? How did you come down the ladder from the golden age? How did the golden age become the iron age? How did the stage of descent come? This only enters the intellects of you children. You should explain with happiness that Shri Krishna is coming. The kingdom of Krishna is being established once again. The people of Bharat should be happy to hear this. However, only those who are fortunate will have that enthusiasm. People of the world even throw away these jewels thinking that they are stones. These jewels are the imperishable jewels of knowledge. The Father is the Ocean of these jewels of knowledge. These jewels of knowledge are very valuable. You have to imbibe these jewels of knowledge. You are now listening directly to the Ocean of Knowledge. Therefore, there is no need to listen to anything else. These jewels do not exist in the golden age. There are no LLBs (barristers) there, nor does anyone there have to become a surgeon, etc. This knowledge doesn’t exist there. There, you experience the reward. So, you children have to explain about the birthday of Krishna very well. So many murlis have been spoken about this. You children have to churn the ocean of knowledge; only then will points emerge. If you want to give a lecture, then wake up early in the morning and write it down, and then read it through. The points you forgot should be added. You will be able to imbibe them well. However, not everyone can speak everything that they wrote down; one point or another will be forgotten. Therefore, you have to explain who Krishna was. He was the master of the wonder of the world. Bharat was Paradise. Shri Krishna was the master of that Paradise. We are giving you the message that Shri Krishna is coming. God Himself taught Raj Yoga and He is teaching us this even now. He is enabling us to make effort to become pure in order to make us into double-crowned deities. You children should have all of this in your awareness. Those who have practised this will be able to explain very well. The writing on Krishna’s picture is first-class. After this war, the gates to heaven will open. Heaven is merged in this war. You children should remain in great happiness. On the day of Janamashtmi, people wear new clothes etc. However, you now know that we will leave those old bodies and take new, pure bodies. It is said: A completely pure body, that is, a golden body. Souls there are pure and the bodies are also pure. At present they are not pure. They are becoming that, numberwise. They will only become pure by having the pilgrimage of remembrance. Baba knows that there are many who don’t even have the sense to remember Baba. It is when you make effort to have remembrance that your words become powerful. Where is that strength now? There isn’t yoga. Your faces have to show that you are becoming Lakshmi or Narayan. You have to study. It is very easy to explain about the birthday of Shri Krishna. It is of Krishna that it is said “The ugly and the beautiful one”. They have made Krishna, Narayan and also Rama dark blue. The Father Himself says: Where did My children, who first sat on the pyre of knowledge and became the masters of heaven, go to? They sat on the pyre of lust and continued to fall, numberwise. The world changes from satopradhan, to sato, rajo and tamo. Similarly, the stage of human beings also becomes the same. By sitting on the pyre of lust, they have all become ugly. I have now come to make everyone beautiful. Souls have to be made beautiful. Baba understands from the behaviour of each one of you what your thoughts, words and deeds are. It is understood from how you act. The activity of you children should be really first-class. Jewels should constantly emerge from your lips. It is very good to explain on the birthday of Krishna. Have the topic of “The ugly and the beautiful one”. Why do they make Krishna dark blue, and Narayan and Radhe dark blue too? The Shivalingam is also of dark stone. However, He is not dark. Look what Shiva is and how He has been portrayed! Only you children understand these things. You can explain why they have made Him dark. Baba will now see what service you children do. The Father says: This knowledge is for those of all religions. You also have to tell them that the Father says: Remember Me and your sins of innumerable births will be cut away. You have to become pure. You can tie a rakhi on anyone. You can tie them on the Europeans as well. Whoever they are, you have to tell them: These are God’s versions. He would definitely say this through someone’s body. He says: Remember Me alone. Forget all your bodily religions and consider yourselves to be souls. Baba explains so much, yet they don’t understand. Therefore, the Father understands that it is not in their fortune. They have to understand that Shiv Baba is teaching them. He cannot teach without a chariot. It is enough just to give a signal. Some children have a good practice of explaining. You understand that Baba and Mama will claim an elevated status. Mama too used to do service. These aspects also have to be explained. There are also many forms of Maya. Many say that Mama enters them or that Shiv Baba enters them. However, new points will only be given through the chariot that is fixed. Or, would they be given through anyone else? That is not possible. In fact, there are many daughters who share their own points. In the magazine, there are so many articles. It isn’t that Mama or Baba enters them and dictates that. No, the Father comes here directly; this is why you come here to listen to Him. If Mama or Baba entered anyone, you would sit there and study with them. No; everyone feels a pull to come here. Those who live far away are attracted more. Therefore, you children can do a great deal of service on Janamashtmi. When did Krishna take birth? No one knows this. Your aprons are now being filled. Therefore, you should remain happy, but Baba sees that some don’t have any happiness at all. It is as though they take a vow not to follow shrimat. Serviceable children will think about service and only service. They think that if they don’t do Baba’s service, that if they don’t show this path to others, it is as though they are blind. These aspects have to be understood. There is a picture of Krishna on your badge. You can use it to explain. Ask anyone why he has been shown as dark blue. No one will be able to tell you. It is written in the scriptures that Rama’s wife was abducted. However, such things don’t happen there. Only you people of Bharat were residents of the land of angels. You have now become residents of the land of death. You now sit on the pyre of knowledge and imbibe divine virtues in order to become residents of the land of angels. You children have to do service; give everyone this message. A great deal of understanding is needed for this. There has to be a great deal of intoxication that God is teaching us. We are living with God. We are God’s children and we also study with Him. When you live in a boarding school, you are not coloured by the things of the world outside. This too is a school. At least Christians have manners, but people now have no manners and are impure and tamopradhan. They go in front of the deities and bow their heads. Their praise is so great. In the golden age they all had divine characters. They now have devilish characters. Give lectures in this way and everyone will become very happy listening to you. It is said of Krishna that He is small, yet he talks big. You now listen to great versions in order to become so great. You can tie a rakhi on anyone. Give the Father’s message to everyone. It is through this war that the gates to heaven will open. You now have to become pure from impure. You have to remember the Father. Do not remember bodily beings. Only the one Father grants salvation to everyone. This is the iron-aged world. The intellects of you children imbibe this knowledge, numberwise, according to the efforts you make. In schools they make a great deal of effort to claim a scholarship. Here, too, there is a very big scholarship to be gained. There is a great deal of service to be done. The mothers can do a great deal of service. Use all the pictures. Use the dark blue pictures of Krishna, Narayan, Ramachandra and Shiva, and sit and explain them. Why have they made the deities dark blue? Explain the ugly and the beautiful one. If you go to the Shrinath Temple you can see completely dark pictures. Therefore, collect such pictures. You can also show your own (Baba’s) pictures. Explain the meaning of the ugly and the beautiful one and tell them: You should now have a rakhi tied. Step down from the pyre of lust. By sitting on the pyre of knowledge, you will become beautiful. You can also do service here. You can give very good lectures about why the deities have been portrayed as dark blue. Why has the Shivalingam been shown dark? We will explain why it is said, “The beautiful and the ugly one”. No one will become upset by this. Service is very easy. The Father continues to explain: Children, imbibe virtues well. Glorify the name of your clan. You know that you now belong to the highest-on-high Brahmin clan. So you can explain to anyone the meaning of tying a rakhi. You can also explain to prostitutes and tie rakhis on them too. Keep the pictures with you. The Father says: Remember Me alone. By obeying this order you will become beautiful. There are many methods. No one will become upset. No one but One can grant salvation to anyone. Even if it is not the occasion of Rakhi, you can still tie a rakhi on someone at any time. The meaning of that has to be understood. A rakhi can be tied whenever you want. This is your business. Tell them to make a promise to the Father. Tell them: The Father says: Remember Me alone and you will become pure. You can even go to the mosques and explain to them that you have come to tie a rakhi on them and that they also have a right to understand this matter. The Father says: Remember Me and your sins will be cut away. Become pure and you will become the masters of the pure worldThis world is now impure. There definitely was the golden age. It is now the iron age. Do you not want to go to Khuda in the golden age? Tell them in this way and they will quickly come and fall at your feet. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Value the imperishable jewels of knowledge that you attain from the Ocean of the jewels of knowledge. Churn the ocean of knowledge and imbibe these jewels yourself. Always let jewels emerge from your lips.
  2. Stay on the pilgrimage of remembrance and make your words powerful. It is only by having remembrance that the soul will become pure. Therefore, imbibe the wisdom to have remembrance.
Blessing: May you be seated on BapDada’s heart throne and forget your old bodies and the old world.
The place for the confluence-aged elevated souls is BapDada’s heart throne. You cannot have such a throne at any other time in the whole cycle. You will continue to receive thrones for the kingdom of the world or the kingdom of a state, but you will not have this throne. This is such a huge throne that even when you walk, tour around, eat and sleep, you are always seated on this throne. The children who are always seated on BapDada’s heart throne forget their old bodies and the old world. They see them but do not see them.
Slogan: To chase after limited name, fame and honour means to chase after a shadow.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 11 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

11-08-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हारी एम ऑब्जेक्ट है वण्डरफुल रंग-बिरंगी दुनिया (स्वर्ग) का मालिक बनना, तो सदा इसी खुशी में हर्षित रहो, मुरझाया हुआ नहीं”
प्रश्नः- तकदीरवान बच्चों को कौन-सा उमंग सदा बना रहेगा?
उत्तर:- हमें बेहद का बाप नई दुनिया का प्रिंस-प्रिंसेज बनाने के लिए पढ़ा रहे हैं। तुम इसी उमंग से सबको समझा सकते हो कि इस लड़ाई में स्वर्ग समाया हुआ है। इस लड़ाई के बाद स्वर्ग के द्वार खुलने हैं – इसी खुशी में रहना है और खुशी-खुशी से दूसरों को भी समझाना है।
गीत:- दुनिया रंग रंगीली बाबा……..

ओम् शान्ति। यह किन्होंने कहा बाबा को, कि दुनिया रंग-बिरंगी है? अब इनका अर्थ दूसरा कोई समझ न सके। बाप ने समझाया है यह खेल रंग-रंगीला है। कोई भी बाइसकोप आदि होता है तो बहुत रंग-बिरंगी सीन-सीनरियाँ आदि होती हैं ना। अब इस बेहद की दुनिया को कोई जानते ही नहीं। तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार सारे विश्व के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान है। तुम समझते हो स्वर्ग कितना रंग-बिरंगा है, खूबसूरत है। जिसको कोई भी जानते नहीं। कोई की बुद्धि में नहीं है, वह है वण्डरफुल रंग-बिरंगी दुनिया। गाया जाता है वण्डर ऑफ दी वर्ल्ड – इसको सिर्फ तुम जानते हो। तुम ही वण्डर ऑफ वर्ल्ड के लिए अपनी-अपनी तकदीर अनुसार पुरुषार्थ कर रहे हो। एम आब्जेक्ट तो है। वह है वण्डर ऑफ वर्ल्ड, बड़ी रंग-बिरंगी दुनिया है, जहाँ हीरे-जवाहरातों के महल होते हैं। तुम एक सेकण्ड में वण्डरफुल बैकुण्ठ में चले जाते हो। खेलते हो, रास-विलास आदि करते हो। बरोबर वण्डरफुल दुनिया है ना। यहाँ है माया का राज्य। यह भी कितना वण्डरफुल है। मनुष्य क्या-क्या करते रहते हैं। दुनिया में यह कोई भी नहीं समझते कि हम नाटक में खेल कर रहे हैं। नाटक अगर समझें तो नाटक के आदि-मध्य-अन्त का भी ज्ञान हो। तुम बच्चे जानते हो बाप भी कितना साधारण है। माया बिल्कुल ही भुला देती है। नाक से पकड़ा, यह भुलाया। अभी-अभी याद में हैं, बहुत हर्षित रहते हैं। ओहो! हम वण्डर ऑफ वर्ल्ड स्वर्ग के मालिक बन रहे हैं, फिर भूल जाते हैं तो मुरझा पड़ते हैं। ऐसा मुरझा जाते हैं जो भील भी ऐसा मुरझाया हुआ न हो। ज़रा भी जैसेकि समझते ही नहीं कि हम स्वर्ग में जाने वाले हैं। हमको बेहद का बाप पढ़ा रहे हैं। जैसे एकदम मुर्दे बन जाते हैं। वह खुशी, नशा नहीं रहता। अभी वण्डर ऑफ वर्ल्ड की स्थापना हो रही है। वण्डर ऑफ वर्ल्ड का श्रीकृष्ण है प्रिन्स। यह भी तुम जानते हो। कृष्ण जन्माष्टमी पर भी जो ज्ञान में होशियार हैं वह समझाते होंगे। श्रीकृष्ण वण्डर ऑफ वर्ल्ड का प्रिन्स था। वह सतयुग फिर कहाँ गया! सतयुग से लेकर सीढ़ी कैसे उतरे। सतयुग से कलियुग कैसे हुआ? उतरती कला कैसे हुई? तुम बच्चों की बुद्धि में ही आयेगा। उस खुशी से समझाना चाहिए। श्रीकृष्ण आ रहे हैं। कृष्ण का राज्य फिर स्थापन हो रहा है। यह सुनकर भारतवासियों को भी खुशी होनी चाहिए। परन्तु यह उमंग उन्हों को आयेगा जो तकदीरवान होंगे। दुनिया के मनुष्य तो रत्नों को भी पत्थर समझकर फेंक देंगे। यह अविनाशी ज्ञान रत्न हैं ना। इन ज्ञान रत्नों का सागर है बाप। इन रत्नों की बहुत वैल्यु है। यह ज्ञान रत्न धारण करने हैं। अभी तुम ज्ञान सागर से डायरेक्ट सुनते हो तो फिर और कुछ भी सुनने की दरकार ही नहीं। सतयुग में यह होते नहीं। न वहाँ एल.एल.बी., न सर्जन आदि बनना होता है। वहाँ यह नॉलेज ही नहीं। वहाँ तो तुम प्रालब्ध भोगते हो। तो जन्माष्टमी पर बच्चों को अच्छी रीति समझाना है। अनेक बार मुरली भी चली हुई है। बच्चों को विचार सागर मंथन करना है, तब ही प्वाइंट्स निकलेंगी। भाषण करना है तो सवेरे उठकर लिखना चाहिए, फिर पढ़ना चाहिए। भूली हुई प्वाइंट्स फिर एड करनी चाहिए। इससे धारणा अच्छी होगी फिर भी लिखत मुआफिक सब नहीं बोल सकेंगे। कुछ न कुछ प्वाइंट्स भूल जायेंगे। तो समझाना होता है, कृष्ण कौन है, यह तो वण्डर ऑफ वर्ल्ड का मालिक था। भारत ही पैराडाइज था। उस पैराडाइज का मालिक श्रीकृष्ण था। हम आपको सन्देश सुनाते हैं कि श्रीकृष्ण आ रहे हैं। राजयोग भगवान ने ही सिखाया है। अब भी सिखला रहे हैं। पवित्रता के लिए भी पुरुषार्थ करा रहे हैं, डबल सिरताज देवता बनाने के लिए। यह सब बच्चों को स्मृति में आना चाहिए। जिनकी प्रैक्टिस होगी वह अच्छी रीति समझा सकेंगे। कृष्ण के चित्र में भी लिखत बड़ी फर्स्टक्लास है। इस लड़ाई के बाद स्वर्ग के द्वार खुलने हैं। इस लड़ाई में जैसे स्वर्ग समाया हुआ है। बच्चों को भी बहुत खुशी में रहना चाहिए, जन्माष्टमी पर मनुष्य कपड़े आदि नये पहनते हैं। लेकिन तुम जानते हो कि अभी हम यह पुराना शरीर छोड़ नया कंचन शरीर लेंगे। कंचन काया कहते हैं ना अर्थात् सोने की काया। आत्मा भी पवित्र, शरीर भी पवित्र। अभी कंचन नहीं है। नम्बरवार बन रही है। कंचन बनेंगी ही याद की यात्रा से। बाबा जानते हैं बहुत हैं जिनको याद करने का भी अक्ल नहीं है। याद की जब मेहनत करेंगे तब ही वाणी जौहरदार होगी। अभी वह ताकत कहाँ है। योग है नहीं। लक्ष्मी-नारायण बनने की शक्ल भी चाहिए ना। पढ़ाई चाहिए। कृष्ण जन्माष्टमी पर समझाना बहुत सहज है। कृष्ण के लिए कहते हैं श्याम-सुन्दर। कृष्ण को भी काला, नारायण को भी काला, राम को भी काला बनाया है। बाप खुद कहते हैं, मेरे बच्चे जो पहले ज्ञान चिता पर बैठ स्वर्ग के मालिक बनें फिर कहाँ चले गये। काम चिता पर बैठ नम्बरवार गिरते चले आये। सृष्टि भी सतोप्रधान, सतो, रजो, तमो बनती है। तो मनुष्यों की अवस्था भी ऐसी होती है। काम चिता पर बैठ सब श्याम अर्थात् काले बन गये हैं। अब मैं आया हूँ सुन्दर बनाने। आत्मा को सुन्दर बनाया जाता है। बाबा हर एक की चलन से समझ जाते हैं – मन्सा, वाचा, कर्मणा कैसे चलते हैं। कर्म कैसे करते हैं, उससे पता पड़ जाता है। बच्चों की चलन तो बड़ी फर्स्टक्लास होनी चाहिए। मुख से सदैव रत्न निकलने चाहिए। कृष्ण जयन्ती पर समझाने का बहुत अच्छा है। श्याम और सुन्दर की टॉपिक हो। कृष्ण को भी काला तो नारायण को फिर राधे को भी काला क्यों बनाते हैं? शिवलिंग भी काला पत्थर रखते हैं। अब वह कोई काला थोड़ेही है। शिव है क्या, और चीज़ क्या बनाते हैं। इन बातों को तुम बच्चे जानते हो। काला क्यों बनाते हैं – तुम इस पर समझा सकेंगे। अब देखेंगे बच्चे क्या सर्विस करते हैं। बाप तो कहते हैं – यह ज्ञान सब धर्म वालों के लिए है। उन्हों को भी कहना है बाप कहते हैं मुझे याद करो तो तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के पाप कट जायेंगे। पवित्र बनना है। किसको भी तुम राखी बांध सकते हो। यूरोपियन को भी बांध सकते हो। कोई भी हो उनको कहना है – भगवानुवाच, जरूर कोई तन से कहेंगे ना। कहते हैं मामेकम् याद करो। देह के सब धर्म छोड़ अपने को आत्मा समझो। बाबा कितना समझाते हैं, फिर भी नहीं समझते हैं तो बाप समझ जाते हैं इनकी तकदीर में नहीं है। यह तो समझते होंगे शिवबाबा पढ़ाते हैं। रथ बिगर तो पढ़ा न सकें, इशारा देना ही बस है। कोई-कोई बच्चों को समझाने की प्रैक्टिस अच्छी है। बाबा-मम्मा के लिए तो समझते हो यह ऊंच पद पाने वाले हैं। मम्मा भी सर्विस करती थी ना। इन बातों को भी समझाना होता है। माया के भी अनेक प्रकार के रूप होते हैं। बहुत कहते हैं हमारे में मम्मा आती है, शिवबाबा आते हैं परन्तु नई-नई प्वाइंट्स तो मुकरर तन द्वारा ही सुनायेंगे कि दूसरे किसी द्वारा सुनायेंगे। यह हो नहीं सकता। ऐसे तो बच्चियाँ भी बहुत प्रकार की प्वाइंट्स अपनी भी सुनाती हैं। मैगजीन में कितनी बातें आती हैं। ऐसे नहीं कि मम्मा-बाबा उनमें आते, वह लिखवाते हैं। नहीं, बाप तो यहाँ डायरेक्ट आते हैं, तब तो यहाँ सुनने के लिए आते हो। अगर मम्मा-बाबा कोई में आते हैं तो फिर वहाँ ही बैठ उनसे पढ़ें। नहीं, यहाँ आने की सबको कशिश होती है। दूर रहने वालों को और ही जास्ती कशिश होती है। तो बच्चे जन्माष्टमी पर भी बहुत सर्विस कर सकते हैं। कृष्ण का जन्म कब हुआ, यह भी किसको पता नहीं है। तुम्हारी अब झोली भर रही है तो खुशी रहनी चाहिए। परन्तु बाबा देखते हैं खुशी कोई-कोई में बिल्कुल है नहीं। श्रीमत पर न चलने का तो जैसे कसम उठा लेते हैं। सर्विसएबुल बच्चों को तो जैसे सर्विस ही सर्विस सूझती रहेगी। समझते हैं बाबा की सर्विस नहीं की, किसको रास्ता नहीं बताया तो गोया हम अन्धे रहे। यह समझने की बात है ना। बैज में भी कृष्ण का चित्र है, इस पर भी तुम समझा सकते हो। कोई से भी पूछो इन्हों को काला क्यों दिखाया है, बता नहीं सकेंगे। शास्त्रों में लिख दिया है राम की स्त्री चुराई गई। परन्तु ऐसी कोई बात वहाँ होती नहीं।

तुम भारतवासी ही परिस्तानी थे, अब कब्रिस्तानी बने हैं फिर ज्ञान चिता पर बैठ दैवी गुण धारण कर परिस्तानी बनते हैं। सर्विस तो बच्चों को करनी है। सबको पैगाम देना है। इसमें बड़ी समझ चाहिए। इतना नशा चाहिए – हमको भगवान पढ़ाते हैं। भगवान के साथ रहते हैं। भगवान के बच्चे भी हैं तो फिर हम पढ़ते भी हैं। बोर्डिंग में रहते हैं तो फिर बाहर का संग नहीं लगेगा। यहाँ भी स्कूल है ना। क्रिश्चियन में फिर भी मैनर्स होते हैं अभी तो बिल्कुल नो मैनर्स, तमोप्रधान पतित हैं। देवताओं के आगे जाकर माथा टेकते हैं। कितनी उनकी महिमा है। सतयुग में सभी के दैवी कैरेक्टर थे, अभी आसुरी कैरेक्टर हैं। ऐसे-ऐसे तुम भाषण करो तो सुनकर बहुत खुश हो जाएं। मुख छोटा बात बड़ी – यह कृष्ण के लिए कहते हैं। अभी तुम कितनी बड़ी बातें सुनते हो, इतना बड़ा बनने के लिए। तुम राखी कोई को भी बांध सकते हो। यह बाप का पैगाम तो सबको देना है। यह लड़ाई स्वर्ग का द्वार खोलती है। अब पतित से पावन बनना है। बाप को याद करना है। देहधारी को नहीं याद करना है। एक ही बाप सर्व की सद्गति करते हैं। यह है ही आइरन एजेड वर्ल्ड। तुम बच्चों की बुद्धि में भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार धारणा होती है, स्कूल में भी स्कालरशिप लेने के लिए बहुत मेहनत करते हैं। यहाँ भी कितनी बड़ी स्कालरशिप है। सर्विस बहुत है। मातायें भी बहुत सर्विस कर सकती हैं, चित्र भी सब उठाओ। कृष्ण का काला, नारायण का काला, रामचन्द्र का भी काला चित्र उठाओ, शिव का भी काला…. फिर बैठ समझाओ। देवताओं को काला क्यों किया है? श्याम-सुन्दर। श्रीनाथ द्वारे जाओ तो बिल्कुल काला चित्र है। तो ऐसे-ऐसे चित्र इकट्ठे करने चाहिए। अपना भी दिखाना चाहिए। श्याम-सुन्दर का अर्थ समझाकर कहो कि तुम भी अब राखी बांध, काम चिता से उतर ज्ञान चिता पर बैठेंगे तो गोरा बन जायेंगे। यहाँ भी तुम सर्विस कर सकते हो। भाषण बहुत अच्छी रीति कर सकते हो कि इन्हों को काला क्यों किया है! शिवलिंग को भी काला क्यों किया है! सुन्दर और श्याम क्यों कहते हैं, हम समझायें। इसमें कोई नाराज़ नहीं होगा। सर्विस तो बहुत सहज है। बाप तो समझाते रहते हैं – बच्चे, अच्छे गुण धारण करो, कुल का नाम बाला करो। तुम जानते हो अभी हम ऊंच ते ऊंच ब्राह्मण कुल के हैं। फिर राखी बंधन का अर्थ तुम कोई को भी समझा सकते हो। वेश्याओं को भी समझाकर राखी बांध सकते हो। चित्र भी साथ में हों। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो – यह फरमान मानने से तुम गोरे बन जायेंगे। बहुत युक्तियाँ हैं। कोई भी नाराज़ नहीं होगा। कोई भी मनुष्य मात्र किसकी सद्गति कर नहीं सकते सिवाए एक के। भल राखी बंधन का दिन न हो, कभी भी राखी बांध सकते हो। यह तो अर्थ समझना है। राखी जब चाहे तब बांधी जा सकती है। तुम्हारा धन्धा ही यह है। बोलो, बाप के साथ प्रतिज्ञा करो। बाप कहते हैं मामेकम् याद करो तो पवित्र बन जायेंगे। मस्जिद में भी जाकर तुम उनको समझा सकते हो। हम राखी बांधने के लिए आये हैं। यह बात तुमको भी समझने का हक है। बाप कहते हैं मुझे याद करो तो पाप कट जायेंगे, पावन बन पावन दुनिया का मालिक बन जायेंगे। अभी तो पतित दुनिया है ना। गोल्डन एज थी जरूर, अब आइरन एज है। तुमको गोल्डन एज में खुदा के पास नहीं जाना है? ऐसे सुनाओ तो झट आकर चरणों पर पड़ेंगे। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ज्ञान रत्नों के सागर से जो अविनाशी ज्ञान रत्न प्राप्त हो रहे हैं, उनकी वैल्यु रखनी है। विचार सागर मंथन कर स्वयं में ज्ञान रत्न धारण करने हैं। मुख से सदैव रत्न निकालने हैं।

2) याद की यात्रा में रहकर वाणी को जौहरदार बनाना है। याद से ही आत्मा कंचन बनेंगी इसलिए याद करने का अक्ल सीखना है।

वरदान:- पुरानी देह और दुनिया को भूलने वाले बापदादा के दिलतख्तनशीन भव
संगमयुगी श्रेष्ठ आत्माओं का स्थान है ही बापदादा का दिलतख्त। ऐसा तख्त सारे कल्प में नहीं मिल सकता। विश्व के राज्य का वा स्टेट के राज्य का तख्त तो मिलता रहेगा लेकिन यह तख्त नहीं मिलेगा – यह इतना विशाल तख्त है जो चलो, फिरो, खाओ-सोओ लेकिन सदा तख्तनशीन रह सकते हो। जो बच्चे सदा बापदादा के दिलतख्तनशीन रहते हैं वे इस पुरानी देह वा देह की दुनिया से विस्मृत रहते हैं, इसे देखते हुए भी नहीं देखते।
स्लोगन:- हद के नाम, मान, शान के पीछे दौड़ लगाना अर्थात परछाई के पीछे पड़ना।

TODAY MURLI 11 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

11/08/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
14/01/85

The basis of having good wishes for others (subh chintak) is to have

thoughts about the original self (swa-chintan) and pure and positive thoughts (subh chintan).

Today, BapDada is looking at the special children everywhere. Who are the special children who have good wishes for everyone by constantly having thoughts of the original self? Those who constantly have pure and positive thoughts automatically have good wishes for others. Pure and positive thoughts are the basis of becoming someone who has good wishes for others. The first step is to have thoughts of the original self. To have thoughts of the original self means constantly to be an embodiment of the awareness of the riddle, “Who am I?” that BapDada has told you about. For example, to know the Father and Dada, as they are and how they are, means to know them accurately and to know both of them is truly to know. In the same way, to know yourself as you are and how you are, that is, to know yourself in your original, eternal and elevated form and to have thoughts about that original self is called having thoughts about the original self. “I am weak, I am an effort-maker, I am not an embodiment of success, I am not a conqueror of Maya.” To think these thoughts is not having thoughts of the original self because to be a confluence-aged, most elevated Brahmin soul means to be a powerful soul. That weakness, lack of effort or slack effort is created by having body consciousness. The “self” means soul consciousness: when you are in this stage, those things of weakness cannot arise. Therefore, to think about the creation of body consciousness is also not having thoughts about the original self. Thoughts about the original self means: “As is the Father, so am I an elevated soul.” Those who have such thoughts about the original self are able to have pure and positive thoughts. Pure and positive thoughts means to churn the jewels of knowledge. It means to entertain yourself with the deep entertaining secrets of the Creator and the creation. One is simply to repeat them and the other is to move along in the waves of the Ocean of Knowledge, that is, to stay in the intoxication of being a master of the treasures of knowledge and constantly to continue to play with the jewels of knowledge. To experience every invaluable version of knowledge means constantly to make yourself great with the invaluable treasures of knowledge. Only those who play with such knowledge have pure and positive thoughts. Those who have such pure and positive thoughts automatically remain distant from wasteful thoughts and thoughts about others. Souls who have thoughts about the original self and pure and positive thoughts remain are so busy having pure and positive thoughts that they don’t have a second or breath to have any other thoughts. This is why such souls easily remain safe from thinking about others and having waste thoughts. They neither have that space in their intellects nor do they have the time. Their time is engaged in pure and positive thoughts and their intellects are constantly full of the jewels of knowledge, that is, filled with pure and positive thoughts. When there is no margin for other thoughts to come, that is what it means to be someone who has pure and positive thoughts. It means being someone who goes into the depths of the secret of every word, not someone who simply enjoys the sound of it. To hear the sound means one who goes into the significance of the word. For example, you enjoy physically listening to music a great deal. In the same way, you also enjoy the music of the murli of knowledge. However, those who understand the secrets as well as the music become the masters of the treasures of knowledge and remain absorbed in churning the knowledge. No obstacles can come in front of those who are absorbed in knowledge. In the same way, those who have pure and positive thoughts automatically become well-wishers for everyone. First are thoughts of the original self and then there are pure and positive thoughts. Such souls become those who have good wishes for others because those who maintain pure and positive thoughts day and night can never have bad thoughts or bad vision for others. Because their original sanskars and nature are pure, they naturally develop the habit of seeing and thinking about everything in a pure way with their attitude and vision. Therefore, they always have good wishes for everyone. Even though they see weak sanskars in other souls, they do not have impure or wasteful thoughts about that soul, such as: This one is always like that anyway. They always give such weak souls wings of zeal and enthusiasm, make them powerful and enable them to fly high. They always co-operate with such souls with their good wishes and pure feelings. One who has good wishes for others means to be one who makes those who have no hope into those who feel there is hope. With their treasures of pure and positive thoughts, they make weak ones full and enable them to move forward. They would not think: This one doesn’t have any knowledge; this one is not worthy of knowledge; this one will not be able to follow the path of knowledge. Someone who has good wishes for others would give them a leg of support with the powers they have received from BapDada and become an instrument to make lame ones walk. A soul who has good wishes, would make disheartened souls healthy with their stage of having good wishes by giving them dilkhush toli (happiness in the heart). You do eat dilkhush toli, do you not? You also know how to give that to others, do you not? Even whilst knowing the weaknesses of other souls, a soul who has good wishes would make those souls forget their weaknesses and give the power of his speciality and make them powerful too. They would not look at anyone with dislike. They always have the vision of uplifting souls who have fallen. They wouldn’t just be in the first stage of having pure thoughts or becoming powerful souls. That too is not being someone who has good wishes for others. To have good wishes for others means to use your treasures to serve many souls through your mind and words in your spiritual relationships and connections. Souls with good wishes for others are number one servers, true servers. Have you become such souls who have good wishes for others? Let your attitude always be pure, let your vision should always be pure; the world of elevated Brahmins will then also be seen as pure. Generally speaking, people commonly say: Speak pure words. Brahmin souls are anyway those who have a pure birth. You have been born at a very pure time. The moment and period of the birth of Brahmins is pure. The omens of fortune are also pure. Your relationships too are pure. Your thoughts and actions are also pure. This is why, for Brahmin souls, there is no name or trace of anything impure not just in their corporeal forms, but not even in their dreams. You are such souls who have good wishes for others, are you not? You have especially come for the Day of Remembrance. The Day of Remembrance means the Day of Power. So, you are special powerful souls, are you not? BapDada too says: You constantly powerful souls are welcome to celebrate the Day of Power. Almighty BapDada always welcomes the powerful children. Do you understand? Achcha.

To those who constantly stay in the spiritual intoxication of thoughts of the original self, to those who remain full of the treasures of pure and positive thoughts, to those who have good wishes for others and enable all souls to fly by first flying themselves, to those who always become bestowers and bestowers of blessings, like the Father and make everyone powerful, to such powerful and equal children, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting a group of mothers:

1) Mothers, you always remain happy seeing your elevated fortune, do you not? Do you always have the happiness that, from being the dust at the feet, you have become the crown of the head? Your treasure of happiness is never stolen, is it? Maya is clever at stealing. If you are always brave and clever, Maya cannot do anything. In fact, she would become a servant and she would become a server from an enemy. Are you such conquerors of Maya? You have remembrance of the Father, that is, you are those who remain constantly in His company and are coloured with spiritual colour. If there isn’t the Father’s company, there is no spiritual colour. So, are all of you destroyers of attachment coloured with the Father’s company? Or, is there a little bit of attachment? There may not be attachment to your children, but perhaps to your grandchildren. Serving the children has ended, and serving others has now begun. It doesn’t reduce. There is a queue formed of one after another. So, are you free from any bondage of that? Mothers have such elevated attainment. Those whose hands had become completely empty have now become wealthy with all treasures. You lost everything and have now once again attained all the attainments from the Father. So, what have you mothers become from what you were? Those who stay within the four walls have become the masters of the world. Do you have the intoxication that the Father has made you His own and that it is thereby such great fortune? When God comes and makes you His own, there could never ever be such elevated fortune anywhere else. So, you always remain happy seeing your own fortune, do you not? Just make sure Maya never steals this treasure.

2) Have all of you become charitable souls? The greatest charity is to give others power. So, always be a charitable soul for all souls, that is, be a great donor of all the treasures you have received. To the extent that you donate these to others, so your treasures accordingly increase multimillion times. So, this giving becomes a form of receiving. Do you have such enthusiasm? The practical form of this enthusiasm is constantly to continue to move forward in service. To the extent that you use your body, mind and wealth for service, to that extent you become a great donor and a charitable soul at present and accumulate for all time for the future. It is also in your fortune in the drama for you to receive a chance to accumulate everything. So you are those who claim this golden chance, are you not? If you think about something and then do it, that is a silver chance, whereas if you do something generously with a big heart, that is a goldenchance. Therefore, all of you become number one chancellors.

BapDada meeting double-foreign children: Every day BapDada gives the return of love to the loving children. The Father has so much love for the children that the children just have a thought, it doesn’t even come into words and the Father gives the return of that in advance. At the confluence age, He gives you love and remembrance for the whole cycle. He gives you so much love and remembrance that your aprons remain filled with love and remembrance for birth after birth. BapDada constantly gives co-operation to the loving souls and makes them move forward. When you become an embodiment of the love that the Father has given you and make someone loving, that person will belong to the Father. It is love that attracts everyone. The love of all the children continues to reach the Father. Achcha.

BapDada meeting a group from Mauritius:

All of you are lucky stars, are you not? How much fortune have you attained? No one else can have fortune greater than this because the Father, the Bestower of Fortune Himself, has become yours. You have become His children. Since the Bestower of Fortune Himself has become yours, what could be greater fortune than that? So, are you such elevated, fortunate shining stars? You are those who make everyone else fortunate, because when you have found something good, you cannot stay without sharing it with others. Just as you cannot stay without having remembrance, in the same way, you cannot stay without serving. Each child will ignite the lights of many others and create a rosary of lights. Deepmala (rosary of lights) is a sign of the tilak of sovereignty. So those who create the deepmala receive the tilak of sovereignty. To serve means to be one who has a tilak of sovereignty. Those who have zeal and enthusiasm for service can also give wings of zeal and enthusiasm to others.

Question: On the basis of which main dharna are you easily able to achieve success?

Answer: Make yourself humble-hearted, have humility and imbibe virtues from every situation and you will easily achieve success. Those who try to prove themselves right become stubborn and so, they can never become well known. Those who are stubborn can never achieve success. Instead of becoming well known, they are distanced.

Question: When you will claim a right to be praised by the world and the Godly family?

Answer: When all your questions for yourself and others have finished. Just as you do not consider yourself to be any less than others and consider yourself an authority in understanding, in the same way, claim a right in understanding and doing and you will claim a right to be praised by the world and the Godly family. Do not become one who asks for anything, but be a bestower. Achcha. Om shanti.

Blessing: May you experience the speciality of contentment in service according to shrimat and become an embodiment of success.
Whatever service you do, whether any students come or not, just remain content with yourself. Have the faith: If I remain content, the message will definitely work. Therefore, do not be unhappy. If the number of students does not increase, it doesn’t matter, at least it has accumulated in your account and they would have received the message. If you yourself are content, the expense has been worthwhile. You carried out the task according to shrimat and to obey shrimat is also to become an embodiment of success.
Slogan: Give weak souls power and you will receive their blessings.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 11 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

11-08-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 14-01-85 मधुबन

शुभ चिन्तक बनने का आधार स्वचिन्तन और शुभ चिन्तन

आज बापदादा चारों ओर के विशेष बच्चों को देख रहे हैं। कौन से विशेष बच्चे हैं जो सदा स्वचिन्तन, शुभ चिन्तन में रहने के कारण सर्व के शुभ चिन्तक हैं। जो सदा शुभ चिन्तन में रहता है वह स्वत: ही शुभचिन्तक बन जाता है। शुभ चिन्तन आधार है – शुभ चिन्तक बनने का। पहला कदम है स्वचिन्तन। स्वचिन्तन अर्थात् जो बापदादा ने ‘मैं कौन’ की पहेली बताई है उसको सदा स्मृति स्वरूप में रखना। जैसे बाप और दादा जो है जैसा है वैसा उसको जानना ही यथार्थ जानना है और दोनों को जानना ही जानना है। ऐसे स्व को भी जो हूँ जैसा हूँ अर्थात् जो आदि अनादि श्रेष्ठ स्वरूप हूँ, उस रूप से अपने आपको जानना और उसी स्वचिन्तन में रहना इसको कहा जाता है स्वचिन्तन। मैं कमजोर हूँ, पुरुषार्थी हूँ लेकिन सफलता स्वरूप नहीं हूँ, मायाजीत नहीं हूँ, यह सोचना स्वचिन्तन नहीं क्योंकि संगमयुगी पुरुषोत्तम ब्राहमण आत्मा अर्थात् शक्तिशाली आत्मा। यह कमजोरी वा पुरुषार्थहीन वा ढीला पुरुषार्थ देह-अभिमान की रचना है। स्व अर्थात् आत्म-अभिमानी, इस स्थिति में यह कमजोरी की बातें आ नहीं सकतीं। तो यह देह-अभिमान की रचना का चिन्तन करना, यह भी स्वचिन्तन नहीं। स्वचिन्तन अर्थात् जैसा बाप वैसे मैं श्रेष्ठ आत्मा हूँ। ऐसा स्वचिन्तन वाला शुभ चिन्तन कर सकता है। शुभ चिन्तन अर्थात् ज्ञान रत्नों का मनन करना। रचता और रचना के गुह्य रमणीक राजों में रमण करना। एक है सिर्फ रिपीट करना, दूसरा है ज्ञान सागर की लहरों में लहराना अर्थात् ज्ञान खजाने के मालिकपन के नशे में रह सदा ज्ञान रत्नों से खेलते रहना। ज्ञान के एक-एक अमूल्य बोल को अनुभव में लाना अर्थात् स्वयं को अमूल्य रत्नों से सदा महान बनाना। ऐसा ज्ञान में रमण करने वाला ही शुभ चिन्तन करने वाला है। ऐसा शुभ चिन्तन वाला स्वत: ही व्यर्थ चिन्तन परचिन्तन से दूर रहता है। स्वचिन्तन, शुभ चिन्तन करने वाली आत्मा हर सेकण्ड अपने शुभ चिन्तन में इतना बिजी रहती है जो और चिन्तन करने के लिए सेकण्ड वा श्वांस भी फुर्सत का नहीं इसलिए सदा परचिन्तन और व्यर्थ चिन्तन से सहज ही सेफ रहता है। न बुद्धि में स्थान है, न समय है। समय भी शुभ चिन्तन में लगा हुआ है, बुद्धि सदा ज्ञान रत्नों से अर्थात् शुभ संकल्पों से सम्पन्न अर्थात् भरपूर है। दूसरा कोई संकल्प आने की मार्जिन ही नहीं, इसको कहा जाता है शुभ चिन्तन करने वाला। हर ज्ञान के बोल के राज़ में जाने वाला। सिर्फ साज़ के मज़े में रहने वाला नहीं। साज़ अर्थात् बोल के राज़ में जाने वाला। जैसे स्थूल साज़ भी सुनने में बहुत अच्छे लगते हैं ना। ऐसे ज्ञान मुरली का साज़ अच्छा बहुत लगता है लेकिन साज़ के साथ राज़ समझने वाले ज्ञान खजाने के रत्नों के मालिक बन मनन करने में मगन रहते हैं। मगन स्थिति वाले के आगे कोई विघ्न आ नहीं सकता। ऐसा शुभ चिन्तन करने वाले स्वत: ही सर्व के सम्पर्क में शुभ चिन्तक बन जाता है। स्वचिन्तन फिर शुभ चिन्तन, ऐसी आत्मायें शुभचिन्तक बन जाती हैं क्योंकि जो स्वयं दिन रात शुभ चिन्तन में रहते वह औरों के प्रति कभी भी न अशुभ सोचते, न अशुभ देखते। उनका निजी संस्कार वा स्वभाव शुभ होने के कारण वृत्ति, दृष्टि सर्व में शुभ देखने और सोचने की स्वत: ही आदत बन जाती है इसलिए हरेक के प्रति शुभ चिन्तक रहता है। किसी भी आत्मा का कमजोर संस्कार देखते हुए भी उस आत्मा के प्रति अशुभ वा व्यर्थ नहीं सोचेंगे कि यह तो ऐसा ही है। लेकिन ऐसी कमजोर आत्मा को सदा उमंग उल्हास के पंख दे शक्तिशाली बनाए ऊंचा उड़ायेंगे। सदा उस आत्मा के प्रति शुभ भावना, शुभ कामना द्वारा सहयोगी बनेंगे। शुभ चिन्तक अर्थात् नाउम्मीदवार को उम्मीदवार बनाने वाले। शुभ चिन्तन के खजाने से कमजोर को भी भरपूर कर आगे बढ़ायेगा। यह नहीं सोचेगा इसमें तो ज्ञान है ही नहीं। यह ज्ञान के पात्र नहीं, यह ज्ञान में चल नहीं सकते। शुभचिन्तक बापदादा द्वारा ली हुई शक्तियों के सहारे की टांग दे लंगड़े को भी चलाने के निमित्त बन जायेंगे। शुभ चिन्तक आत्मा अपनी शुभचिन्तक स्थिति द्वारा दिलशिकस्त आत्मा को दिल खुश मिठाई द्वारा उनको भी तन्दरूस्त बनायेगी। दिलखुश मिठाई खाते हो ना। तो दूसरे को खिलाने भी आती है ना। शुभचिन्तक आत्मा किसी की कमजोरी जानते हुए भी उस आत्मा की कमजोरी भुलाकर अपनी विशेषता के शक्ति की समर्थी दिलाते हुए उसको भी समर्थ बना देंगे। किसी के प्रति घृणा दृष्टि नहीं। सदा गिरी हुई आत्मा को ऊंचा उड़ाने की दृष्टि होगी। सिर्फ स्वयं शुभ चिन्तन में रहना वा शक्तिशाली आत्मा बनना यह भी फर्स्ट स्टेज नहीं। इसको भी शुभचिन्तक नहीं कहेंगे। शुभचिन्तक अर्थात् अपने खजानों को मंसा द्वारा, वाचा द्वारा, अपने रूहानी सम्बन्ध सम्पर्क द्वारा अन्य आत्माओं प्रति सेवा में लगाना। शुभ चिंतक आत्मायें नम्बरवन सेवाधारी, सच्चे सेवाधारी हैं, ऐसे शुभ चिन्तक बने हो? सदा वृत्ति शुभ, दृष्टि शुभ। तो सृष्टि भी श्रेष्ठ ब्राह्मणों की शुभ दिखाई देगी। वैसे भी साधारण रूप में कहा जाता है शुभ बोलो। ब्राह्मण आत्मायें तो हैं ही शुभ जन्म वाली। शुभ समय पर जन्मे हो। ब्राह्मणों के जन्म की घड़ी अर्थात् वेला शुभ है ना। भाग्य की दशा भी शुभ है। सम्बन्ध भी शुभ है। संकल्प, कर्म भी शुभ है इसलिए ब्राह्मण आत्माओं के साकार में तो क्या लेकिन स्वप्न में भी अशुभ का नाम निशान नहीं – ऐसी शुभचिन्तक आत्मायें हो ना। स्मृति दिवस पर विशेष आये हो – स्मृति दिवस अर्थात् समर्थ दिवस। तो विशेष समर्थ आत्मायें हो ना। बापदादा भी कहते हैं सदा समर्थ आत्मायें समर्थ दिन मनाने भले पधारे। समर्थ बापदादा समर्थ बच्चों की सदा स्वागत करते हैं समझा। अच्छा!

सदा स्वचिन्तन के रूहानी नशे में रहने वाले, शुभ चिन्तन के खजाने से सम्पन्न रहने वाले शुभचिन्तक बन सर्व आत्माओं को उड़कर उड़ाने वाले, सदा बाप समान दाता वरदाता बन सभी को शक्तिशाली बनाने वाले, ऐसे समर्थ समान बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।”

पार्टियों के साथ – माताओं के ग्रुप से

1. मातायें सदा अपना श्रेष्ठ भाग्य देख हर्षित रहती हो ना। चरणों की दासी से सिर के ताज बन गई यह खुशी सदा रहती है? कभी खुशी का खजाना चोरी तो नहीं हो जाता? माया चोरी करने में होशियार है। अगर सदा बहादुर हैं, होशियार हैं तो माया कुछ नहीं कर सकती और ही दासी बन जायेगी, दुश्मन से सेवाधारी बन जायेगी। तो ऐसे मायाजीत हो? बाप की याद है अर्थात् सदा संग में रहने वाले हैं। रूहानी रंग लगा हुआ है। बाप का संग नहीं तो रूहानी रंग नहीं। तो सभी बाप के संग के रंग में रंगे हुए नष्टोमोहा हो? या थोड़ा-थोड़ा मोह है? बच्चों में नहीं होगा लेकिन पोत्रों धोत्रों में होगा। बच्चों की सेवा पूरी हुई दूसरों की सेवा शुरू हुई। कम नहीं होती। एक के पीछे एक लाइन लग जाती है। तो इससे बन्धन मुक्त हो? माताओं की कितनी श्रेष्ठ प्राप्ति हो गई। जो बिल्कुल हाथ खाली बन गई थीं वह अभी मालामाल हो गई। सब कुछ गंवाया, अभी फिर से बाप द्वारा सर्व खजाने प्राप्त कर लिए, तो मातायें क्या से क्या बन गई? चार दीवारों में रहने वाली विश्व का मालिक बन गई। यह नशा रहता है ना कि बाप ने हमको अपना बनाया तो कितना भाग्य है? भगवान आकर अपना बनाये, ऐसा श्रेष्ठ भाग्य तो कभी नहीं हो सकता। तो अपने भाग्य को देख सदा खुश रहती हो ना। कभी यह खजाना माया चोरी न करे।

2. सभी पुण्य आत्मायें बने हो? सबसे बड़ा पुण्य है दूसरों को शक्ति देना। तो सदा सर्व आत्माओं के प्रति पुण्य आत्मा अर्थात् अपने मिले हुए खजाने के महादानी बनो। ऐसे दान करने वाले जितना दूसरों को देते हैं उतना पदम-गुणा बढ़ता है। तो यह देना अर्थात् लेना हो जाता है। ऐसे उमंग रहता है? इस उमंग का प्रैक्टिकल स्वरूप है सेवा में सदा आगे बढ़ते रहो। जितना भी तन-मन-धन सेवा में लगाते उतना वर्तमान भी महादानी पुण्य आत्मा बनते और भविष्य भी सदाकाल का जमा करते। यह भी ड्रामा में भाग्य है जो चांस मिलता है अपना सब कुछ जमा करने का। तो यह गोल्डन चांस लेने वाले हो ना। सोचकर किया तो सिल्वर चांस, फ़राखदिल होकर किया तो गोल्डन चांस तो सब नम्बरवन चांसलर बनो।

डबल विदेशी बच्चों से – बापदादा रोज स्नेही बच्चों को स्नेह का रिटर्न देते हैं। बाप का बच्चों से इतना स्नेह है, जो बच्चे संकल्प ही करते, मुख तक भी नहीं आता और बाप उसका रिटर्न पहले से ही कर देता। संगमयुग पर सारे कल्प का यादप्यार दे देते हैं। इतना याद और प्यार देते हैं जो जन्म-जन्म याद-प्यार से झोली भरी हुई रहती है। बापदादा स्नेही आत्माओं को सदा सहयोग दे आगे बढ़ाते रहते हैं। बाप ने जो स्नेह दिया है उस स्नेह का स्वरूप बनकर किसी को भी स्नेही बनायेंगे तो वह बाप का बन जायेंगे। स्नेह ही सबको आकर्षित करने वाला है। सभी बच्चों का स्नेह बाप के पास पहुँचता रहता है। अच्छा !

मौरीशियस पार्टी से – सभी लकी सितारे हो ना? कितना भाग्य प्राप्त कर लिया। इस जैसा बड़ा भाग्य कोई का हो नहीं सकता क्योंकि भाग्य विधाता बाप ही आपका बन गया। उसके बच्चे बन गये। जब भाग्य विधाता अपना बन गया तो इससे श्रेष्ठ भाग्य क्या होगा। तो ऐसे श्रेष्ठ भाग्यवान चमकते हुए सितारे हो। और सबको भाग्यवान बनाने वाले हो क्योंकि जिसको कोई अच्छी चीज मिलती है वह दूसरों को देने के सिवाए रह नहीं सकते। जैसे याद के बिना नहीं रह सकते वैसे सेवा के बिना भी नहीं रह सकते। एक-एक बच्चा अनेकों का दीप जलाए दीपमाला करने वाला है। दीपमाला राजतिलक की निशानी है। तो दीपमाला करने वालों को राज्य तिलक मिल जाता है। सेवा करना अर्थात् राज्य तिलकधारी बनना। सेवा के उमंग-उत्साह में रहने वाले दूसरों को भी उमंग-उत्साह के पंख दे सकते हैं।

प्रश्न:- किस मुख्य धारणा के आधार से सिद्धि को सहज प्राप्त कर सकते हो?

उत्तर:- स्वयं को नम्रचित, निर्माण और हर बात में अपने आपको गुणग्राहक बना लो तो सहज सिद्धि को पा लेंगे। जो स्वयं को सिद्ध करता है, वह जिद्द करता है इसलिए वो कभी भी प्रसिद्ध नहीं हो सकता। जिद्द करने वाला कभी सिद्धि को पा नहीं सकता। वह प्रसिद्ध होने के बजाए और ही दूर हो जाता है।

प्रश्न:- विश्व की वा ईश्वरीय परिवार की प्रशंसा के हकदार कब बनेंगे?

उत्तर:- जब स्वयं प्रति वा दूसरों के प्रति सब प्रश्न समाप्त होंगे। जैसे एक दो से स्वयं को कम नहीं समझते हो, समझने में अपने को अथॉरिटी समझते हो ऐसे समझने और करने इन दोनों में हकदार बनो तब विश्व की वा ईश्वरीय परिवार की प्रशंसा के हकदार बनेंगे। कोई भी बात मांगने वाले मंगता नहीं, दाता बनो। अच्छा। ओम् शान्ति।

वरदान:- श्रीमत प्रमाण सेवा में सन्तुष्टता की विशेषता का अनुभव करने वाले सफलतामूर्त भव 
कोई भी सेवा करो, कोई जिज्ञासु आवे या नहीं आवे लेकिन स्वयं, स्वयं से सन्तुष्ट रहो। निश्चय रखो कि अगर मैं सन्तुष्ट हूँ तो मैसेज काम जरूर करेग़ा इसमें उदास नहीं हो। स्टूडेन्ट नहीं बढ़े कोई हर्जा नहीं, आपके हिसाब-किताब में तो जमा हो गया और उन्हों को सन्देश मिल गया। अगर स्वयं सन्तुष्ट हो तो खर्चा सफल हुआ। श्रीमत प्रमाण कार्य किया, तो श्रीमत को मानना यह भी सफलतामूर्त बनना है।
स्लोगन:- असमर्थ आत्माओं को समर्थी दो तो उनकी दुआयें मिलेंगी।

TODAY MURLI 11 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 11 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 10 August 2018 :- Click Here

11/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, only by having unadulterated remembrance will your stage become unshakeable and immovable. Make such effort that you remember nothing but the one Father.
Question: What service does Shiv Baba do and what is that you children have to do?
Answer: At the confluence age, Shiv Baba removes all souls from the graveyard, that is, He does the service of purifying souls who, having come into body consciousness, have become impure. You children have to become lighthouses and, along with the Father, show everyone the way to the land of peace and land of happiness. Let there be liberation in one eye and liberation-in-life in the other.
Song: Who created this play and then hid Himself away?

Om shanti. In fact, this song belongs to the path of devotion. There is definitely someone this praise belongs to. You children understand very clearly that it is the Father who does everything. He is Karankaravanhar. Sikh people sing His praise a great deal because their religion is new, whereas that religion is very old. They remember ‘Ek Om Kar’ (God is one, an oval image). Baba has also explained the meaning of ‘Om’ very clearly, whereas they give a very long and complicated explanation. I tell you that I, the Supreme Soul, am the Resident of the supreme abode. I do not take rebirth; you take rebirth. The Father sits here and introduces Himself to you children. I reveal Myself to only you children. It has been explained to you that I am the Supreme Father, the Supreme Soul, the One you souls have been remembering on the path of devotion as God, the Father. He is praised as the Purifier, the Merciful One and the Liberator. He is also called the Guide. This is the Pandava Army. The Guide shows the path to liberation and liberation-in-life. People sing: Take our boat across. God is definitely called the Boatman as well as the Master of the Garden. He says: You used to be very intoxicated. You were carefree emperors in the golden and silver ages. You had so many riches. At Shrinathdware, they cook rich food for the bhog they offer. They cook very rich, nourishing food there, whereas they only cook rice and dal at the Jagadnath Temple. Dirty images of deities are displayed there. All of you are now dirty. At the Shrinathdware Temple, they make firstclass food, which they offer to Shrinath as bhog. It is then taken by priests who sell it at their stalls. They earn their livelihood through that. You children are becoming the masters of heaven. Your maids and servants also eat the same rich food that you eat there. Thirty six varieties of food are prepared, but you couldn’t eat that much, and so the maids and servants eat it as well. However, you mustn’t simply be content with that. A whole kingdom is being created. You will live there in great pleasure and comfort. You children receive your fortune of the kingdom of heaven that is established by the World Almighty Authority. It is said: Knowledge, devotion and disinterest. Now, there are two types of disinterest. The disinterest of sannyasis is limited; they leave their homes and businesses and go and live in the jungles. They help to bring a lot of benefit to Bharat in an incognito way. It is said that the gates of heaven open through destruction. In the same way, sannyasis help through their purity. This is why their praise is sung in the drama. The Father says: This knowledge will later disappear. So, their disinterest is limited, whereas yours is unlimited. The unlimited Father inspires you to have unlimited disinterest: Stay in your households and simply remove everything from your intellects. These are old bodies; your 84 births are now complete. Forget your bodies and all your bodily religions and relationships and consider yourself to be souls. They say that souls are immune to the effect of action, that you can eat and drink whatever you want and you will not be affected in any way. There are many different opinions and many different systems and customs. Whatever idea someone starts it just carries on. For instance, some refer to Adi Dev as Mahavir, but then they also call Hanuman Mahavir. In fact, all of you are mahavirs (great warriors) who gain victory over Maya. You make effort based on shrimat. You have to create a stage like that of Angad, whom Ravan wasn’t able to shake. No matter how many storms of Maya come, you great warriors must not shake. You cannot have this stage at this time, but it will be like that at the end. No matter how many storms of vicious thoughts come, you must remain unshakeable. You should have unadulterated remembrance; no one else should be remembered. A great deal of effort is required for this. Only at the end will you be completely unshakeable and immovable. There is a memorial of Achalghar (home of the unshakeable one). Above that is Guru Shikhar. You now understand that Shiv Baba is the Highest on High; He is the Creator. What does He create first? This too should remain in your intellects. Shiv Baba is the Highest on High. Then there are Brahma, Vishnu and Shankar, the residents of the subtle region. Why is Vishnu shown with four arms? This is the proof of the household path they follow. Your path is the household path. Establishment takes place through Brahma. The Brahmin religion is the highest of all; you are even more elevated than the deities because you do service. You carry out the establishment of the deity religion and you then become the masters of the world. The one Father is the highest of all, that is, only Shiv Baba and no one else is worthy of praise. The principal birthday is Shiv Baba’s, because no one else does as much service. Lakshmi and Narayan just experience their reward. It is now the time of settlement for everyone. Initially, it is the Father who is worshipped. That worship is unadulterated. Worship has now become completely adulterated. Starting with Shiv Baba, you know everyone’s occupation. You are now sitting with Baba in practic e. You understand that you are once again making Bharat into heaven. Those who create it will then go and rule there. There, there will be the dynasty of Lakshmi and Narayan and then that of Rama. Now, what benefit is there in worshipping them? They have to descend. They simply experienced their reward, that’s all! You are now becoming worthy of worship from worshippers. Where is Ganesh with a trunk and Hanuman with a tail and the goddesses with eight to ten arms? All of that is the expansion of the path of devotion. You understand what happens on the path of devotion and how you take 63 births. You are now Brahmins. Then, from Brahmins, you go through the deity, warrior, merchant and shudra castes. This drama is eternally fixed; no one can stop it. This is a game of somersaulting. People go on a pilgrimage while somersaulting. Previously, the game of somersaulting while on a pilgrimage was considered very important. Now, so many different opinions have emerged. No one except the one Father can grant liberation or liberation-in-life. You now have liberation in one eye and liberation-in-life in the other. Your intellects say: We are lighthouses. You are the lighthouses who show human beings the path. First of all, you have to return to your sweet home. This play is now about to end. You children understand that this true Gita is being created so that those who are weak can study and become strong. Everything else is to be destroyed. The same Gita will be created again. They quote a verse from the Gita and then explain the meaning of it. It says in the Gita: “God speaks”. It was God who spoke the Gita, but people don’t understand that. The Father says: I cannot be found by studying those scriptures. I come when devotion ends. Knowledge is the day and devotion is the night. For half a cycle it is the kingdom of Ravan. Ravan is not visible. It can be understood with the intellect when someone has the evil spirit of lust and someone has the evil spirit of anger. These words of impurity are not used in the golden age. Here, people continue to insult one another. None of these things exist in the golden age. You now understand that the Father, the Purifier, is the Creator of heaven. He creates heaven and then hides Himself away. No one is able to know Him. Even though there is the image of Shiva, people don’t understand anything about when or how Shiv Baba came, what the significance of Brahma, Vishnu and Shankar is or where they reside. How did Lakshmi and Narayan claim such an elevated kingdom in heaven? They do not exist in the iron age. You now understand how they claimed the kingdom. You children have to study very well with the Father and then teach others. The Father says to all His children: My long-lost and now-found children, o My saligrams, I enter this body in order to explain to you. I have adopted this body of Brahma. Brahmins are created through Brahma. People don’t object when you go to other satsangs, but they do object when you come here. Quarrels take place due to poison. It is about this that the Father says: This poison causes you sorrow from its beginning through the middle to the end. This is the number one enemy. Conquer this enemy of lust, the enemy that has caused you sorrow from its beginning through the middle to the end. This is why people call out: O Purifier come. They know that they are impure. That is why they go and bow their heads in front of pure ones. Sannyasis attract others with their purity and this is why they are given a high status. They also think that no one throughout the whole of Bharat is as elevated as they are. You Shaktis also shot the arrows at them. If it had been a question of physical arrows, it would not have been said that it was God who inspired them to shoot those arrows. Those arrows were knowledge. You are Brahma Kumaris but they call you ‘brahm kumaris’. They say that the brahm (element of light) is God. The Father says: That is their brahm (imagination). Many sannyasis now come to you. Many eminent people also go to the sannyasis. They say: Mahatmaji, come, we will offer you food. They offer them very good hospitality; they are a symbol of purity. Nowadays, many robbers dress up as sannyasis. You are completely honest and you are also Raj Rishis. You now understand everything from the top to the bottom. You understand that you will become deities like Lakshmi and Narayan and claim your reward. Half way through the cycle, when other religions come, wars begin. All of that is fixed in the drama. You have become knowledge-full, having come to know the supreme region, the subtle region and the physical world, and the beginning, the middle and the end of the world. You also understand the cycle in order to become rulers of the globe. Lakshmi and Narayan were the king and queen with a double crown in Bharat. Those with a single crown bow down to them. They had the power of purity. In the golden age they were completely viceless. People sing: You are completely viceless, full of all divine virtues. Why do they sing this praise? Because they themselves are vicious worshippers. The whole play rests on Bharat. There was a double crown and then a single crown and now there is no crown. You have come to understand the whole world cycle. You now understand who the Creator, the Director and the principal Actor is. You will then become deities. The dirt of Maya is being washed off you. The Father says: I am the Laundryman and also the greatest Goldsmith. You ornaments are now put in a furnace. You will then become real ornaments. The Father is also the Barrister who releases you from the jail of the five vices. He liberates you. You are in the jail of Ravan. Baba gives you legal advice on how you can free yourself from this jail. The Father says: I carry out My task, give you the fortune of the kingdom and then I disappear. You become happy. Once you have claimed your kingdom, I will go into retirement. Achcha, who are the most fortunate ones? Baba says: The kumaris are the most fortunate. Baba says: I fulfil My duty. You are impure and unhappy and you cry out. Therefore, the Father’s duty is to grant the children liberation and liberation-in-life. There is no one else who can grant liberation. Those people give themselves many titles, but they are all completely wrong. The intellects of human beings are completely without love at the time of destruction. You children continue to say: Baba, Baba. However, people don’t understand the significance of this. They think that you are perhaps remembering this Baba. You children know that Baba has made you into the masters of heaven innumerable times. This is your Godly birth. The Father says: Remember Me alone. It is this that requires effort. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Study well with the Father and teach others. Become a l ig hthouse and show everyone the path to liberation and liberation-in-life.
  2. Stay in unadulterated remembrance of the one Father, and thereby create an unshakeable and immovable stage for yourself. Become a great warrior.
Blessing: May you be a conqueror of matter and remain beyond any influence of the upheaval of matter by staying in a high stage.
You are becoming conquerors of Maya, but you now also have to become conquerors of matter because there is now going to be a lot of upheaval of matter. Sometimes, the water of the oceans will show its influence and sometimes, the earth will show its influence. If you are a conqueror of matter, none of the upheaval of matter will be able to shake you. You will always be a detached observer and observe all the games. Just as angels are always shown on a high mountain, similarly, you angels have to stay constantly in a high stage and the higher you are, the more you will automatically remain beyond any upheaval.
Slogan: To give all souls the experience of co-operation with your elevated vibrations is tapasya.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 11 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 11 August 2018

To Read Murli 10 August 2018 :- Click Here
11-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अव्यभिचारी याद से ही तुम्हारी अवस्था अचल-अडोल बनेगी, पुरुषार्थ करो एक बाप के सिवाए दूसरा कुछ भी याद न आये”
प्रश्नः- शिवबाबा कौन-सी सर्विस करते हैं और तुम बच्चों को क्या करना है?
उत्तर:- संगम पर शिवबाबा सभी आत्माओं को कब्र से निकालते हैं अर्थात् आत्मायें जो देह अभिमान में आकर पतित बन गई हैं उन्हें पतित से पावन बनाने की सर्विस करते हैं। तुम बच्चे भी बाप के साथ-साथ सबको शान्तिधाम और सुखधाम का रास्ता बताने के लिए लाइट हाउस बनो। तुम्हारी एक आंख में मुक्ति और दूसरी आंख में जीवनमुक्ति हो।
गीत:- किसने यह सब खेल रचाया…….. 

ओम् शान्ति। यह वास्तव में भक्ति मार्ग का गीत है। कोई है जरूर, जिसकी यह महिमा है। बच्चे अच्छी रीति समझ सकते हैं कि यह बाप ही है जो सब कुछ करते हैं, करनकरावनहार है। सिक्ख लोग बहुत महिमा गाते हैं क्योंकि नया धर्म है और यह है बहुत पुराना धर्म। गाते हैं एकोअंकार… ओम् का अर्थ भी बाबा ने बहुत अच्छी रीति समझाया है। वह तो बहुत लम्बा-चौड़ा अर्थ कर देते हैं। मैं कहता हूँ मैं परमात्मा परमधाम का रहने वाला हूँ। मैं पुनर्जन्म में नहीं आता हूँ, तुम पुनर्जन्म में आते हो। बाप बच्चों को बैठ परिचय देते हैं। मैं बच्चों के सामने ही प्रत्यक्ष हूँ। इन्हों को समझाया है मैं हूँ परमपिता परमात्मा, जिसको तुम आत्मायें भक्ति मार्ग में याद करती हो – ओ गॉड फादर। उनकी महिमा भी है पतित-पावन, रहमदिल, लिबरेटर। उनको गाइड भी कहते हैं। यह है पाण्डव सेना। पण्डा मुक्ति-जीवनमुक्ति की राह बताता है। गाते भी हैं ना नईया मेरी पार लगाओ। बरोबर परमात्मा को खिवैया भी कहते हैं, बागवान भी कहते हैं। कहते हैं तुम कितने मस्त थे। सतयुग-त्रेता में बेपरवाह बादशाह थे। कितने वैभव थे! श्रीनाथ द्वारे में कितने वैभव खिलाते हैं, पक्की रसोई बनाते हैं, जगन्नाथ के मन्दिर में दाल-चावल बनाते हैं। वहाँ काले चित्र दिखाते हैं। अभी तुम सब काले हो। श्रीनाथ द्वारे में बहुत फर्स्टक्लास चीजें बनती हैं, फिर जो श्रीनाथ को भोग लगाते हैं, वह पुजारियों को मिलता है। वह फिर दुकान में बेचते हैं। उससे शरीर निर्वाह होता है। तुम बच्चे तो स्वर्ग के मालिक बनते हो। वहाँ जो वैभव तुम खाते हो, वह दास-दासियां भी खाते हैं। 36 प्रकार के वैभव बनते हैं, इतने तो खा नही सकेंगे तो फिर दास-दासियां खाते हैं। परन्तु इसमें ही खुश नहीं होना है। राजधानी तो सारी बननी है। तुम वहाँ बहुत मौज में रहेंगे। वर्ल्ड ऑलमाइटी अथॉरिटी का स्थापन किया हुआ स्वर्ग का राज्य-भाग्य तुम बच्चों को मिलता है।

कहते हैं ज्ञान, भक्ति, वैराग्य। अब वैराग्य दो प्रकार का होता है। सन्यासियों का है हद का वैराग्य। घर-बार छोड़ जाकर जंगल में बैठते हैं फिर वह गुप्त मदद करते हैं। भारत का बहुत फ़ायदा करते हैं। जैसे विनाश के लिए कहा जाता है इनसे स्वर्ग के गेट खुलते हैं। वैसे यह भी पवित्रता की मदद करते हैं, इसलिए ड्रामा में उन्हों की महिमा है। बाप कहते हैं यह ज्ञान प्राय:लोप हो जाता है। तो उनका है हद का वैराग्य, तुम्हारा है बेहद का। तुम्हें बेहद का बाप वैराग्य दिलाते हैं। गृहस्थ व्यवहार में रहते सिर्फ बुद्धि से भूलना है। यह तो पुराना शरीर है, अब 84 जन्म पूरे हुए। देह सहित देह के सब धर्मों, सर्व सम्बन्धों को भूलना है। अपने को देही समझना है। वह तो कह देते कि आत्मा निर्लेप है। कुछ भी खाओ-पियो, लेप-छेप नहीं लगता। अनेक मत-मतान्तर हैं। कैसी रस्म-रिवाज है, जिसने जो मत चलाई चल पड़ती है। जैसे यहाँ कोई आदि देव को महावीर कहते हैं। महावीर फिर हनुमान को भी कहते हैं। वास्तव में तुम सब महावीर-महावीरनियां हो जो माया पर जीत पाते हो। श्रीमत पर पुरुषार्थ करते हो। तुमको अपनी अवस्था ऐसी रखनी है, जैसे अंगद को रावण हिला नहीं सका।

तुम महावीरों को भी भल कितना भी माया का तूफान लगे, परन्तु हिलना नहीं है। यह अवस्था अभी नहीं होगी। पिछाड़ी में ऐसी अवस्था होनी है। कितने भी विकल्पों के तूफान आयें लेकिन अडोल रहना है। अव्यभिचारी याद रहे और किसकी याद ना आये, इसमें मेहनत बहुत करनी है। पिछाड़ी में ही अचल-अडोल बनेंगे। अचलघर यादगार है ना। उसके ऊपर गुरूशिखर है। अभी तुम समझते हो ऊंच ते ऊंच है शिवबाबा, वह है रचयिता। पहले-पहले क्या रचते हैं, वह भी बुद्धि में रखना है। ऊंच ते ऊंच है शिवबाबा फिर हैं ब्रह्मा-विष्णु-शंकर सूक्ष्मवतनवासी, विष्णु को चार भुजायें क्यों देते हैं? इससे यह प्रवृत्ति मार्ग सिद्ध होता है। तुम्हारा है प्रवृत्ति मार्ग। ब्रह्मा द्वारा स्थापना कराते हैं। ब्राह्मण धर्म है ऊंच ते ऊंच, देवताओं से भी तुम ऊंच हो क्योंकि तुम सर्विस करते हो। दैवी धर्म की स्थापना कर फिर तुम विश्व के मालिक बनते हो। ऊंच ते ऊंच है एक बाप अथवा महिमा लायक एक ही शिवबाबा है, दूसरा न कोई। बर्थ डे एक शिवबाबा का ही मुख्य है। बाकी तो कोई सर्विस नहीं करते। लक्ष्मी-नारायण भी प्रालब्ध भोगते हैं। अभी तो सबकी कयामत का समय है। पहले-पहले भक्ति भी शुरू होती है एक बाप की। वह है अव्यभिचारी भक्ति। अभी तो बिल्कुल व्यभिचारी बन गये हैं। तुम शिवबाबा से लेकर सभी के आक्यूपेशन को जानते हो। अभी तुम प्रैक्टिकल में बाबा के पास बैठे हो, जानते हो कि हम फिर से भारत को स्वर्ग बना रहे हैं। जो बनाते हैं, वही फिर राज्य करेंगे। फिर वहाँ लक्ष्मी-नारायण की डिनायस्टी चलती है फिर राम की। अब उनकी क्या पूजा करें? उनको तो नीचे उतरना ही है, प्रालब्ध भोग पूरी की, बस। तुम ही पूज्य से पुजारी बनते हो। बाकी सूंढ़ वाला गणेश, पूंछ वाला हनूमान, 8-10 भुजा वाली देवियाँ कहाँ हैं? यह सब भक्ति मार्ग के बखेरे हैं। तुम जानते हो कि भक्ति मार्ग में क्या होता है? 63 जन्म कैसे लेते हैं? अभी तुम ब्राह्मण हो फिर ब्राह्मण से देवता, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र वर्णों मे आयेंगे – यह ड्रामा अनादि बना हुआ है। कोई रोक नहीं सकता। बाजोली खेली जाती है ना। तीर्थों पर बाजोली खेलते जाते हैं। आगे बाजोली का बड़ा प्रभाव था। अभी तो अनेकानेक मतें निकल पड़ी हैं सिवाए एक बाप के और कोई मुक्ति-जीवनमुक्ति दे नहीं सकता। अब तुम्हारी एक आंख में है मुक्ति, दूसरी आंख में है जीवनमुक्ति। बुद्धि कहती है हम लाइट हाउस हैं।

तुम हो मनुष्यों को रास्ता दिखाने वाले लाइट हाउस। पहले-पहले जाना है स्वीट होम। अभी नाटक पूरा होना है। तुम बच्चे जानते हो कि यह सच्ची गीता आदि क्यों बनाते हैं? जो कच्चे हैं वह पढ़ कर पक्के बनें। बाकी तो यह सब ख़त्म हो जाने हैं। फिर वही गीता आदि निकलेगी। गीता का एक श्लोक उठाकर उसका अर्थ करते जाते हैं। गीता में तो है भगवानुवाच। गीता भगवान् ने सुनाई थी, परन्तु समझते नहीं हैं। बाप कहते हैं मैं इन शास्त्रों से नहीं मिलता हूँ, जब भक्ति पूरी होती है तब मैं आता हूँ। ज्ञान है दिन, भक्ति है रात। आधाकल्प है रावण का राज्य, रावण देखने में नहीं आता है। बुद्धि से समझ सकते हैं – इनमें काम का भूत, क्रोध का भूत है। यह अशुद्ध अक्षर सतयुग में काम नहीं आते। यहाँ तो एक-दो को गाली देते रहते हैं। यह सब बातें सतयुग में नहीं होती। अभी तुम समझते हो बाप पतित-पावन स्वर्ग का रचयिता है। स्वर्ग रचकर फिर अपने को छिपा लेते हैं। इनको कोई भी जान नहीं सकता। भल शिव का चित्र है परन्तु पता कुछ भी नहीं। शिवबाबा कब आया, कैसे आया? ब्रह्मा, विष्णु, शंकर का क्या राज़ है, वह कहाँ रहते हैं? लक्ष्मी-नारायण को सतयुग में इतनी ऊंच राजाई कैसे मिली? कलियुग में तो है नहीं। कैसे वह राजाई पाते हैं – यह अब तुम समझते हो। बच्चों को बाप से अच्छी रीति पढ़कर फिर औरों को पढ़ाना है। बाप सभी बच्चों को कहते हैं कि मेरे सिकीलधे बच्चे, ओ मेरे सालिग्रामों मैं इस शरीर में आकर तुमको समझाता हूँ, इस ब्रह्मा का तन लिया हुआ है। ब्रह्मा से ब्राह्मण पैदा होते हैं। और कोई सतसंग में ऐसे कोई मना नहीं होती है। यहाँ मना करते हैं। विष पर ही झगड़े होते हैं। जिसके लिए ही बाप कहते हैं – यह विष आदि-मध्य-अन्त दु:ख देते हैं। यह है नम्बरवन दुश्मन, इस काम महाशत्रु को जीतो जिसने तुमको आदि-मध्य-अन्त दु:ख दिया है इसलिए कहते हैं पतित-पावन आओ। जानते हैं हम पतित हैं तब तो जाकर पावन के आगे माथा टेकते हैं। पवित्रता की कशिश होती है, इसलिए उन्हों का मर्तबा रखते हैं। वह भी समझते हैं, हमारे जैसा ऊंच भारत में कोई है नहीं। उन्हों को भी तुम शक्तियों ने बाण मारे हैं। अगर स्थूल बाणों की बात होती तो ऐसे थोड़ेही कहते कि परमपिता ने बाण मरवाये हैं। यह हैं ज्ञान के बाण। तुम हो ब्रह्माकुमारियाँ, वह फिर ब्रह्म कुमारियाँ कह देते हैं। कहते हैं ब्रह्म ही भगवान् है। बाप कहते हैं यह तुम्हारा भ्रम है। अब तुम्हारे पास सन्यासी लोग भी बहुत आते हैं। बड़े-बड़े आदमी सन्यासियों के पास जाते हैं। बोलते हैं – महात्मा जी, चलिये हम आपको भोजन खिलायें। बहुत उन्हों की ख़ातिरी करते हैं। पवित्रता की निशानी है ना। आजकल तो कई डाकू भी सन्यासी का वेष धारण कर लेते हैं। तुम तो बिल्कुल साफ हो और तुम हो भी राजऋषि। अभी तुम ऊपर से नीचे तक समझ गये हो, जानते हो हम सो देवता लक्ष्मी-नारायण बन प्रालब्ध भोगते हैं। आधाकल्प बाद फिर जब और धर्म आते हैं तब लड़ाइयां आदि लगती हैं। यह भी सब ड्रामा में है। तुम मूलवतन, सूक्ष्मवतन, स्थूल वतन, सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त को जानकर नॉलजेफुल बन गये हो। चक्र को भी जान लिया है चक्रवर्ती राजा बनने के लिए। भारत में डबल सिरताज राजा-रानी यह लक्ष्मी-नारायण ही थे। सिंगल ताज वाले उन्हों को नमन करते हैं। पवित्रता की ताकत थी, सतयुग में वाइसलेस सम्पूर्ण निर्विकारी थे। गाते भी हैं सर्वगुण सम्पन्न…… यह क्यों गाते हैं? खुद पुजारी विकारी हैं। भारत पर ही सारा खेल है। डबल सिरताज और सिंगल सिरताज, अभी तो नो ताज……। तुम सारे सृष्टि चक्र को समझ गये हो। क्रियेटर, डायरेक्टर, मुख्य एक्टर कौन हैं – तुम अभी जानते हो। फिर तुम देवता बन जायेंगे।। माया की जो कीचड़ लगी है वह धोई जाती है। बाप कहते हैं मैं धोबी भी हूँ, बड़े ते बड़ा सुनार भी हूँ। तुम्हारे जेवर को अभी भट्ठी में डालते हैं। तुम सच्चा जेवर बन जायेंगे। बाप बैरिस्टर भी है। तुमको 5 विकारों की जेल से छुड़ाते हैं, लिबरेट करते हैं। तुम रावण की जेल में हो, जेल से छुड़ाने लिए वकालत सिखलाते हैं कि अपने को कैसे छुड़ाओ। बाप कहते हैं मैं अपना कार्य कर तुमको राज्य-भाग्य दे फिर मैं गुम हो जाऊंगा। तुम सुखी बन जायेंगे। तुम राजधानी ले लेंगे फिर मैं वानप्रस्थ में बैठ जाऊंगा।

अच्छा, सबसे भाग्यशाली कौन है? बाबा कहते हैं कि कन्यायें भाग्यशाली हैं। बाबा कहते मैं तो अपना फ़र्ज पालन करता हूँ। तुम पतित-दु:खी हो, पुकारते हो, तो बाप का फ़र्ज है बच्चों को मुक्ति-जीवनमुक्ति देना। ऐसा मुक्ति दाता और कोई नहीं, बाकी टाइटिल वह लोग बहुत रखवाते हैं परन्तु है बिल्कुल रांग। मनुष्यों की बिल्कुल ही विनाश काले विपरीत बुद्धि है। तुम बच्चे बाबा-बाबा कहते रहते हो, मनुष्य थोड़ेही इस राज़ को समझेंगे। वह समझेंगे शायद इस बाबा को याद करते हैं। तुम बच्चे जानते हो कि अनेक बार बाबा ने हमको स्वर्ग का मालिक बनाया है। यह है ईश्वरीय जन्म। बाप कहते हैं सिर्फ एक मुझे याद करो इसमें ही मेहनत है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप से अच्छी रीति पढ़कर औरों को पढ़ाना है। लाइट हाऊस बन सबको मुक्ति-जीवनमुक्ति की राह दिखानी है।

2) एक बाप की अव्यभिचारी याद से अपनी अवस्था एकरस अचल-अडोल बनानी है। महावीर बनना है।

वरदान:- ऊंची स्टेज पर रह प्रकृति की हलचल के प्रभाव से परे रहने वाले प्रकृतिजीत भव
मायाजीत तो बन रहे हो लेकिन अब प्रकृतिजीत भी बनो क्योंकि अभी प्रकृति की हलचल बहुत होनी है। कभी समुद्र का जल अपना प्रभाव दिखायेगा, तो कभी धरनी अपना प्रभाव दिखायेगी। अगर प्रकृतिजीत होंगे तो प्रकृति की कोई भी हलचल हिला नहीं सकेगी। सदा साक्षी होकर सब खेल देखेंगे। जैसे फरिश्तों को सदा ऊंची पहाड़ी पर दिखाते हैं, ऐसे आप फरिश्ते सदा ऊंची स्टेज पर रहो तो जितना ऊंचें होंगे उतना हलचल से स्वत: परे हो जायेंगे।
स्लोगन:- अपने श्रेष्ठ वायब्रेशन से सर्व आत्माओं को सहयोग की अनुभूति कराना भी तपस्या है।
Font Resize