10 september ki murli

TODAY MURLI 10 SEPTEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 10 September 2020

10/09/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father has come to charge your batteries. The more you stay in remembrance, the more your batteries will continue to be charged.
Question: Why do storms come to your boat of truth?
Answer: Because, at this time, there are many artificial people. Some call themselves God and some show their occult power. This is why people are not able to recognise the truth. They try to rock the boat of truth, but you know that your boat of truth can never sink. Those who create obstacles today will understand tomorrow that it is only here that they will find the path to salvation; that there is just this one shop for everyone.

Om shanti. This is said to you children, you souls, spirits, because a spirit listens through ears. It is souls that imbibe everything. The Father’s soul is filled with knowledge. You children too have to become soul conscious in this birth. You have been body conscious on the path of devotion for 63 births. Although you knew there definitely was a soul, you didn’t know what a soul was. It is a soul that enters a body. It is the soul that experiences sorrow. It is said, “impure soul,” or, “pure soul”. You would never have heard, “impure Supreme Soul” said. If God were in everyone, “impure Supreme Soul” would be said. So, the main thing is to become soul conscious. No one knows how tiny souls are or how souls have their entire parts recorded in them. You are listening to something new. Only the Father teaches you this pilgrimage of remembrance. No one else can teach it. It repeatedly takes effort to consider yourself to be a soul. You have that emergency light, which works with a battery. That is charged. The Father is the greatest power of all. There are so many souls. They all have to be filled with power from that Power. The Father is the Almighty Authority. If we souls don’t have yoga with Him, how could our batteries be charged? It takes a whole cycle for your batteries to become discharged. The batteries have to be charged now. You children understand that your batteries have become discharged and that they now have to be charged. How? Baba says: Have yoga with Me. This is something that can very easily be understood. The Father says: When you souls connect your intellects in yoga with Me, you will be filled with power and become satopradhan. This study brings an income. You become pure by having remembrance and your lifespan increases. Your batteries become charged. Each one of you has to check yourself as to how much you remember the Father. When you forget the Father, your battery becomes discharged. No one else has a true connection. Only you children have a true connection. How can one’s light be ignited without remembering the Father? Only the one Father gives you knowledge. You know that knowledge is the day and that devotion is the night. Then there is disinterest in the night and the day begins. The Father says: Forget the night and remember the day. Heaven is day and hell is night. You children are now in living forms and those bodies are perishable. They are made of dust and will merge into the dust. Souls are imperishable, but the batteries become discharged. You are now becoming so sensible. Your intellects continue to go to the home where we came from. We now know about the subtle region. Vishnu is portrayed there with four arms. Human beings cannot have four arms. It doesn’t enter anyone’s intellect that Brahma and Saraswati then become Lakshmi and Narayan and that this is why Vishnu is given four arms. No one but the Father can explain these things. The soul is filled with these sanskars. It is the soul that becomes satopradhan from tamopradhan. All souls call out to the Father: O Baba, we have become dischargedCome now because we want to become charged. The Father now says: The more you stay in remembrance, the more you will accordingly receive power. You should have a lot of love for the Father. Baba, I belong to You. I will go back home with You. It is just like the in-laws coming and taking the bride from her parents’ home. Here, you have now received two fathers to decorate you. The decoration has to be very good, which means you have to become full of all virtues. Ask yourself: Do I have any defects? Although there may be storms in the mind, you have to check: Do I perform any wrong actions? Do I cause sorrow for anyone? The Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. We also have to show everyone the path to happiness. Baba continues to show you many ways to do this. You are the army. Your name is, “Prajapita Brahma Kumars and Kumaris”. Ask anyone who comes: From where did you come and to whom have you come? They reply: We have come to the Brahma Kumars and Kumaris. Achcha, who is Brahma? Have you ever heard the name of Prajapita Brahma? Yes. You too are children of Prajapita Brahma. All are his people. He is your father too, but it’s just that you don’t know him. Brahma is definitely someone’s child too. His Father (Shiv Baba) has no body that can be seen. Shiv Baba is higher than the three, Brahma, Vishnu and Shankar. It is said, “Trimurti Shiva”, because He is the Creator of all three. Shiv Baba is at the top and then there are the three, just like a genealogical tree. The Father of Brahma is definitely God. He is the Father of all souls. Achcha, so where did Brahma come from? The Father says: I enter this one’s body and name him Brahma. You children were also given names, and so he was named Brahma. Baba says: This is My divine and alokik birth. I adopt you children. I enter this one’s body and speak knowledge to you. Therefore, we are BapDada. The body He enters has its own soul: I come and sit next to him. There are many cases where two souls play a part together. When a soul is invoked, where would that soul come and sit? That soul would definitely come and sit next to the brahmin priest. Here, too, there are two souls: Bap and Dada. The Father said to this one: You don’t know your own births. He also tells you: You didn’t know your own births. You have now remembered that you go around the cycle of 84 births every cycle and that you then return home. This is now the confluence age when you are transferred. By having yoga, you become satopradhan and your batteries are charged. Then you go to the golden age. The whole cycle continues to turn around in your intellects. You cannot go into detail. There is the duration of a tree. It then becomes dry. Here, too, it is as though all human beings have dried up. Everyone continues to cause sorrow for one another. Everyone’s body is now to be destroyed. All souls will go back home. No one but the Father can give this knowledge. Only the Father gives you sovereignty of the world. Therefore, you should remember Him so much. When you don’t stay in remembrance, you are slapped by Maya. The hardest slap is for vice. Only you Brahmins are on the battlefield. Therefore, storms will also only come to you. However, you mustn’t perform any sinful actions. When you perform sinful actions, you are defeated. Baba teaches you children: Children, never indulge in vice. Don’t defame the name of the clan. In a physical family, when a child is not worthy, the parents say: Why are you dirtying your face? You are defaming the name of the clan. After experiencing victory and defeat, defeat and victory, you will ultimately be victorious. This is the boat of truth. There will be many storms, because many artificial people have emerged. Some call themselves God and some call themselves something else. Many show their occult power; they even grant visions. The Father comes to grant everyone salvation. Neither this forest nor the residents of this forest will remain. You are now at the confluence age. You know that this old world has now become a graveyard. You mustn’t attach your hearts to those who are going to die. This world is about to come to an end. Destruction is about to take place. The Father only comes when the new world has become old. By remembering the Father very well, your batteries are charged. Some can speak knowledge very well, but they don’t have any power of yoga, so there isn’t that strength; the sword isn’t that powerful. The Father says: This is nothing new. I came 5000 years ago too. The Father asks: Have we met previously? Children reply: We met a cycle ago. Some then say that the drama itself will inspire them to make effort. OK, the drama is now inspiring you to make effort. Therefore, do that! Don’t just sit down somewhere. Those who made effort in the previous cycle will do so again. Those who haven’t yet come here will also come. Those who were walking along this path and who then left and got married will also come back and make effort, if that is their part in the drama. Where else could they go? Everyone will have to come back to the Father, dangling their tails behind them. It is written that Bhishampitamai also came at the end. At the moment, they have so much arrogance, but their arrogance will then end. You play your parts every 5000 years; you claim the kingdom and then lose it. Day by day, the number of centres is increasing. You have to explain, particularly to the people of Bharat who worship the deities, that it used to be the deity religion in the golden age and that this is why they are worshipped now. Christians praise Christ, whereas they praise the original, eternal, deity religion. Who established this religion? They believe that Krishna established it, and this is why they continue to worship him. You are numberwise too. Some make so much effort and some a little less. A mountain is portrayed being lifted by everyone lending a finger. This world has now become old and everything has lost its strength. They can’t even find gold in the mines. In heaven, there are palaces of gold, whereas the Government now is fed up because it has to settle its debts. There is plenty of wealth there; the walls are studded with diamonds and jewels. People are very keen on having everything studded with diamonds. There is no lack of wealth there. There are plenty of treasures there. A play about Aladdin and his magic lamp is performed. Just by the lamp being rubbed, a whole palace emerges. Here, too, as soon as you receive a divine vision, you go to heaven. There, you see the princes and princesses with diamond studded things, like flutes etc. If anyone were to wear such ornaments here, they would be looted. That person would even be stabbed and robbed. Such things don’t exist there. This world is very old and dirty. The world of Lakshmi and Narayan was very wonderful and beautiful. There were palaces studded with diamonds and jewels. They wouldn’t be on their own there. That was called heaven. You know that you truly were the masters of heaven. We built the temple to Somnath. You understand what you were, and how, on the path of devotion, you then built temples and performed worship. You souls have the knowledge of your 84 births. There were so many diamonds and jewels; where did they all go? Gradually, everything finished. A lot was looted by the Muslims and they placed diamonds on the tombs, and built the Taj Mahal etc. The British came and dug them out and took them away and nothing now remains. Bharat is now a beggar and continues to incur debts. You can’t get grain, sugar or anything. The world now has to change. However, before that, in order to make the batteries of you souls satopradhan, you have to be charged. You definitely do have to remember the Father. Your intellects must be connected in yoga to the Father. It is from Him that you receive your inheritance. It is in this that Maya battles with you. Previously, you didn’t understand these things; you were just like the rest. You are now at the confluence age, whereas everyone else is in the iron age. People say that you continue to say whatever enters your head. However, there are tactics you can use to explain to them. Gradually, the number of you will grow. Baba is now opening a big university. Pictures are needed to explain there. As you progress further, you will have all of these pictures made in “translight form. Then, it will be very easy for you to explain. You know that you are establishing your sovereignty once again by having remembrance of the Father and His knowledge. Maya comes in between and deceives you a great deal. The Father says: Continue to save yourself from being deceived. He continues to show you many methods for this. Simply tell them: Remember the Father and your sins will be absolved. You will then become like this Lakshmi and Narayan. God, Himself, has had these badges etc. made. Therefore, you should value them so much. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Decorate yourself with all virtues. Never cause sorrow for anyone. Show everyone the path to happiness.
  2. The whole world has become like a graveyard, so don’t attach your heart to it. Always remain aware that you are now being transferred because you have to go to the new world.
Blessing: May you be a true trustee and a conqueror of Maya who renounces the consciousness of “I” while living at home with the family.
Just as germs take birth in rubbish, in the same way, Maya takes birth where there is the consciousness of “mine”. The easy method to become a conqueror of Maya is to consider yourself to be a trustee. A Brahma Kumar means a trustee and a trustee does not have any attachment to anyone because he does not have the consciousness of “mine”. When you consider yourself to be a householder May will come and when you consider yourself to be a trustee, Maya will run away and so, be detached and then come into action while in the family and you will become Mayaproof.
Slogan: Where there is ego there will definitely be the feeling of insult.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 10 SEPTEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 September 2020

Murli Pdf for Print : – 

10-09-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – बाप आये हैं तुम्हारी बैटरी चार्ज करने, जितना तुम याद में रहेंगे उतना बैटरी चार्ज होती रहेगी”
प्रश्नः- तुम्हारी सच की बेड़ी (नांव) को तूफान क्यों लगते हैं?
उत्तर:- क्योंकि इस समय आर्टीफीशियल बहुत निकल पड़े हैं। कोई अपने को भगवान कहते, कोई रिद्धि-सिद्धि दिखाते, इसलिए मनुष्य सच को परख नहीं सकते। सच की बेड़ी को हिलाने की कोशिश करते हैं। परन्तु तुम जानते हो कि हमारी सच की नांव कभी डूब नहीं सकती। आज जो विघ्न डालते हैं, वह कल समझेंगे कि सद्गति का रास्ता यहाँ ही मिलना है। सबके लिए यह एक ही हट्टी है।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों प्रति अथवा रूहों प्रति क्योंकि रूह अथवा आत्मा सुनती है कानों द्वारा। धारणा आत्मा में होती है। बाप की आत्मा में भी ज्ञान भरा हुआ है। बच्चों को आत्म-अभिमानी बनना है इस जन्म में। भक्ति मार्ग के 63 जन्म, द्वापर युग से तुम देह-अभिमान में रहते हो। आत्मा क्या है, यह पता नहीं रहता है। आत्मा है जरूर। आत्मा ही शरीर में प्रवेश करती है। दु:ख भी आत्मा को ही होता है। कहा भी जाता है पतित आत्मा, पावन आत्मा। पतित परमात्मा कभी नहीं सुना है। सर्व के अन्दर परमात्मा अगर होता तो पतित परमात्मा हो जाए। तो मुख्य बात है आत्म-अभिमानी बनना। आत्मा कितनी छोटी है, उसमें कैसे पार्ट भरा हुआ है, यह किसको भी पता नहीं है। तुम तो नई बात सुनते हो। यह याद की यात्रा भी बाप ही सिखलाते हैं, और कोई सिखला न सके। मेहनत भी है इसमें। घड़ी-घड़ी अपने को आत्मा समझना है। जैसे देखो यह इमर्जेन्सी लाइट आई है, जो बैटरी पर चलती है। इसको फिर चार्ज करते हैं। बाप है सबसे बड़ी पावर। आत्मायें कितनी ढेर हैं। सबको उस पावर से भरना है। बाप है सर्वशक्तिमान्। हम आत्माओं का उनसे योग नहीं होगा तो बैटरी चार्ज कैसे हो? सारा कल्प लगता है डिस्चार्ज होने में। अभी फिर बैटरी को चार्ज करना होता है। बच्चे समझते हैं हमारी बैटरी डिस्चार्ज हो गई है, अब फिर चार्ज करनी है। कैसे? बाबा कहते हैं मेरे से योग लगाओ। यह तो बहुत सहज समझने की बात है। बाप कहते हैं मेरे साथ बुद्धि योग लगाओ तो तुम्हारी आत्मा में पावर भरकर सतोप्रधान बन जायेगी। पढ़ाई तो है ही कमाई। याद से तुम पावन बनते हो। आयु बड़ी होती है। बैटरी चार्ज होती है। हर एक को देखना है – कितना बाप को याद करते हैं। बाप को भूल जाने से ही बैटरी डिस्चार्ज होती है, कोई का भी सच्चा कनेक्शन नहीं है। सच्चा कनेक्शन है ही तुम बच्चों का। बाप को याद करने बिगर ज्योत जगेगी कैसे? ज्ञान भी सिर्फ एक बाप ही देते हैं।

तुम जानते हो ज्ञान है दिन, भक्ति है रात। फिर रात से होता है वैराग्य, फिर दिन शुरू होता है। बाप कहते हैं रात को भूलो, अब दिन को याद करो। स्वर्ग है दिन, नर्क है रात। तुम बच्चे अब चैतन्य में हो, यह शरीर तो विनाशी है। मिट्टी का बनता है, मिट्टी में मिल जाता है। आत्मा तो अविनाशी है ना। बाकी बैटरी डिस्चार्ज होती है। अभी तुम कितने समझदार बनते हो। तुम्हारी बुद्धि चली जाती है घर में। वहाँ से हम आये हैं। यहाँ सूक्ष्मवतन का तो मालूम पड़ गया। वहाँ 4 भुजायें विष्णु की दिखाते हैं। यहाँ तो 4 भुजा होती नहीं। यह किसको भी बुद्धि में नहीं होगा कि ब्रह्मा-सरस्वती फिर लक्ष्मी-नारायण बनते हैं, इसलिए विष्णु को 4 भुजा दी हैं। सिवाए बाप के कोई समझा न सके। आत्मा में ही संस्कार भरते हैं। आत्मा ही तमोप्रधान से फिर सतोप्रधान बनती है। आत्मायें ही बाप को पुकारती हैं – ओ बाबा हम डिस्चार्ज हो गये हैं, अब आप आओ, हमको चार्ज होना है। अब बाप कहते हैं – जितना याद करेंगे उतना ताकत आयेगी। बाप से बहुत लव होना चाहिए। बाबा हम आपके हैं, आपके साथ ही घर जाने वाले हैं। जैसे पियर घर से ससुरघर वाले ले जाते हैं ना। यहाँ तुमको दो बाप मिले हैं, श्रृंगार कराने वाले। श्रृंगार भी अच्छा चाहिए अर्थात् सर्वगुण सम्पन्न बनना है। अपने से पूछना है, मेरे में कोई अवगुण तो नहीं हैं। मन्सा में भल तूफान आते हैं, कर्मणा से तो कुछ नहीं करता हूँ? किसको दु:ख तो नहीं देता हूँ? बाप है दु:ख हर्ता, सुख कर्ता। हम भी सबको सुख का रास्ता बताते हैं। बाबा बहुत युक्तियाँ बतलाते रहते हैं। तुम तो हो सेना। तुम्हारा नाम ही है प्रजापिता ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ, कोई भी अन्दर आये, पहले-पहले तो ये पूछो कि कहाँ से आये हो? किसके पास आये हो? कहेंगे हम बी. के. के पास आये हैं। अच्छा ब्रह्मा कौन है? प्रजापिता ब्रह्मा का नाम कभी सुना है? हाँ प्रजापिता के तो तुम भी बच्चे हो। प्रजा तो सब हो गये ना। तुम्हारा बाप है, तुम सिर्फ जानते नहीं हो। ब्रह्मा भी जरूर किसी का बच्चा होगा ना। उनके बाप का कोई शरीर तो देखने में नहीं आता है। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर इन तीनों के ऊपर है शिवबाबा। त्रिमूर्ति शिव कहा जाता है तीनों का रचयिता। ऊपर में एक शिवबाबा, फिर हैं तीन। जैसे सिजरा होता है ना। ब्रह्मा का बाप जरूर भगवान ही होगा। वह है आत्माओं का पिता। अच्छा, फिर ब्रह्मा कहाँ से आया। बाप कहते हैं मैं इनमें प्रवेश कर, इनका नाम रखता हूँ ब्रह्मा। तुम बच्चों के नाम रखे, तो इनका भी नाम रखा ब्रह्मा। कहते हैं यह मेरा दिव्य अलौकिक जन्म हैं। तुम बच्चों को तो एडाप्ट करता हूँ। बाकी इनमें प्रवेश करता हूँ फिर तुमको सुनाता हूँ इसलिए यह हो गये बाप-दादा। जिसमें प्रवेश किया उनकी आत्मा तो है ना। उनके बाजू में आकर बैठता हूँ। दो आत्माओं का पार्ट तो यहाँ बहुत चलता है। आत्मा को बुलाते हैं तो आत्मा कहाँ आकर बैठेगी। जरूर ब्राहमण के बाजू में आकर बैठेगी। यह भी दो आत्मायें हैं बाप और दादा। इनके लिए बाप कहते हैं अपने जन्मों को नहीं जानते हो। तुमको भी कहते हैं तुम अपने जन्मों को नहीं जानते थे। अब स्मृति आई है कल्प-कल्प 84 का चक्र लगाया है, फिर वापिस जाते हैं। यह है संगमयुग। अब ट्रांसफर होते हैं। योग से तुम सतोप्रधान बन जायेंगे, बैटरी चार्ज हो जायेगी। फिर सतयुग में आ जायेंगे। बुद्धि में सारा चक्र फिरता रहता है। डिटेल में तो नहीं जा सकेंगे। झाड़ की भी आयु होती है, फिर सूख जाता है। यहाँ भी सब मनुष्य जैसे सूख गये हैं। सब एक-दो को दु:ख देते रहते हैं। अभी सबका शरीर खलास हो जायेगा। बाकी आत्मायें चली जायेंगी। यह ज्ञान बाप के सिवाए कोई दे न सके। बाप ही विश्व की बादशाही देते हैं, उनको कितना याद करना चाहिए। याद में न रहने से माया का थप्पड़ लग जाता है। सबसे कड़ा थप्पड़ है विकार का। युद्ध के मैदान में तुम ब्राह्मण ही हो ना, तो तुमको ही तूफान आयेंगे। परन्तु कोई विकर्म नहीं करना है। विकर्म किया तो हार खाई। बाबा से पूछते हैं यह करना पड़ता है। बच्चे तंग करते हैं तो गुस्सा आ जाता है। बच्चों को अच्छी रीति सम्भालेंगे नहीं तो खराब हो जायेंगे। कोशिश करके थप्पड़ नहीं लगाओ। कृष्ण के लिए भी दिखाते हैं ना ओखली से बांधा। रस्सी से बांधो, खाना न दो। रो-रो कर आखिर कहेंगे अच्छा अब नहीं करेंगे। बच्चा है फिर भी करेगा, शिक्षा देनी है। बाबा भी बच्चों को शिक्षा देते हैं – बच्चे, कभी विकार में मत जाना, कुल-कलंकित नहीं बनना। लौकिक में भी कोई कपूत बच्चा होता है तो माँ-बाप कहते हैं ना – यह क्या काला मुंह करते हो। कुल को कलंक लगाते हो। हार-जीत, जीत-हार, होते-होते आखरीन जीत हो जायेगी। सच की बेड़ी (नांव) है, तूफान बहुत आयेंगे क्योंकि आर्टीफीशियल बहुत निकल पड़े हैं। कोई अपने को भगवान कहते, कोई क्या कहते हैं। रिद्धि-सिद्धि भी बहुत दिखाते हैं। साक्षात्कार भी कराते हैं। बाप आते ही हैं सर्व की सद्गति करने। फिर न तो यह जंगल रहेगा, न जंगल में रहने वाले रहेंगे। अभी तुम हो संगमयुग पर, जानते हो कि यह पुरानी दुनिया कब्रिस्तान हुई पड़ी है। कोई मरने वाले से दिल थोड़ेही लगाते हैं, यह दुनिया तो गई कि गई। विनाश हुआ कि हुआ। बाप आते ही तब हैं जब नई दुनिया पुरानी होती है। बाप को अच्छी रीति याद करेंगे तो बैटरी चार्ज होगी। भल वाणी तो बहुत अच्छी-अच्छी चलाते हैं। परन्तु याद का जौहर नहीं तो वह ताकत नहीं रहती है। जौहरदार तलवार नहीं। बाप कहते हैं यह कोई नई बात नहीं है। 5 हज़ार वर्ष पहले भी आये थे। बाप पूछते हैं आगे कब मिले हो? तो कहते हैं कल्प पहले मिले थे। कोई फिर कह देते ड्रामा आपेही पुरूषार्थ करायेगा। अच्छा अब ड्रामा पुरूषार्थ करा रहा है ना, तो करो। एक जगह बैठ तो नही जाना है। जिन्होंने कल्प पहले पुरूषार्थ किया है, वह करेंगे। अभी तक जो आये नहीं हैं, वह आने हैं। जो चलते-चलते भाग गये, शादी आदि जाकर की, उनका भी ड्रामा में पार्ट होगा तो आकर फिर पुरूषार्थ करेंगे, जायेंगे कहाँ। बाप के पास ही सबको पूँछ लटकाना पड़ेगा। लिखा हुआ है भीष्मपितामह आदि भी अन्त में आते हैं। अभी तो कितना घमण्ड है फिर वह घमण्ड उन्हों का पूरा हो जायेगा। तुम भी हर 5 हज़ार वर्ष के बाद पार्ट बजाते हो, राजाई लेते हो, गंवाते हो। दिन-प्रतिदिन सेन्टर्स बढ़ते जाते हैं। भारतवासी जो खास देवी-देवताओं के पुजारी हैं उनको समझाना है, सतयुग में देवी-देवता धर्म था तो उनकी पूजा करते हैं। क्रिश्चियन लोग काइस्ट की महिमा करते, हम आदि सनातन देवी-देवता धर्म की महिमा करते हैं। वह किसने स्थापन किया। वो लोग समझते हैं कृष्ण ने स्थापन किया तब उनकी पूजा करते रहते। तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं। कोई कितनी मेहनत करते हैं, कोई कितनी। दिखाते हैं ना गोवर्धन पर्वत को अंगुली पर उठा लिया।

अभी यह पुरानी दुनिया है, सब चीज़ों से ताकत निकल गई है। सोना भी खानियों से नहीं निकलता है, स्वर्ग में तो सोने के महल बनते हैं, अभी तो गवर्मेन्ट तंग हो जाती है क्योंकि कर्जा देना पड़ता है। वहाँ तो अथाह धन है। दीवारों में भी हीरे-जवाहरात लगे रहते हैं। हीरों की जड़त का शौक रहता है। वहाँ धन की कमी है नहीं। कारून का खजाना रहता है। अल्लाह अवलदीन का एक खेल दिखाते हैं। ठका करने से महल निकल आते हैं। यहाँ भी दिव्य-दृष्टि मिलने से स्वर्ग में चले जाते हैं। वहाँ प्रिन्स-प्रिन्सेज के पास मुरली आदि सब चीज़ें हीरों की रहती हैं। यहाँ तो कोई ऐसी चीज़ पहनकर बैठे तो लूटकर ले जायेंगे। छूरा मार कर भी ले जायेंगे। वहाँ यह बातें होती नहीं। यह दुनिया ही बड़ी पुरानी गन्दी है। इन लक्ष्मी-नारायण की दुनिया तो वाह-वाह थी। हीरों-जवाहरातों के महल थे। अकेले तो नहीं होंगे ना। उसको कहा जाता था स्वर्ग, तुम जानते हो बरोबर हम स्वर्ग के मालिक थे। हमने ये सोमनाथ का मन्दिर बनाया था। यह समझते हैं – हम क्या थे फिर भक्ति मार्ग में कैसे मन्दिर बनाकर पूजा की। आत्मा को अपने 84 जन्मों का ज्ञान है। कितने हीरे-जवाहरात थे, वह सब कहाँ गये। आहिस्ते-आहिस्ते सब खलास होते गये। मुसलमान आये, इतना तो लूटकर ले गये जो कब्रों में जाकर हीरे लगाये, ताज महल आदि बनाया। फिर ब्रिटिश गवर्मेन्ट वहाँ से खोदकर ले गई। अभी तो कुछ भी नहीं है। भारत बेगर है, कर्जा ही कर्जा लेते रहते हैं। अनाज, चीनी आदि कुछ नहीं मिलता। अब विश्व को बदलना है। परन्तु उनसे पहले आत्मा की बैटरी को सतोप्रधान बनाने लिए चार्ज करना है। बाप को याद जरूर करना है। बुद्धि का योग बाप के साथ हो, उनसे ही तो वर्सा मिलता है। माया की इसमें ही लड़ाई होती है। आगे इन बातों को तुम थोड़ेही समझते थे। जैसे दूसरे वैसे तुम थे। तुम अभी हो संगमयुगी और वह सब हैं कलियुगी। मनुष्य कहेंगे इन्हों को तो जो आता है सो कहते रहते हैं। लेकिन समझाने की युक्तियाँ भी होती हैं ना। धीरे-धीरे तुम्हारी वृद्धि होती जायेगी। अभी बाबा बड़ी युनिवर्सिटी खोल रहे हैं। इसमें समझाने के लिए चित्र तो चाहिए ना। आगे चलकर तुम्हारे पास यह सब चित्र ट्रांसलाइट के बन जायेंगे जो फिर तुमको समझाने में भी सहज हो।

तुम जानते हो हम अपनी बादशाही फिर से स्थापन कर रहे हैं, बाप की याद और ज्ञान से। माया बीच में बहुत धोखा देती है। बाप कहते हैं धोखे से बचते रहो। युक्तियाँ तो बतलाते रहते हैं। मुख से सिर्फ इतना बोलो कि बाप को याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे और तुम यह लक्ष्मी-नारायण बन जायेंगे। यह बैज़ेस आदि भगवान ने खुद बनाये हैं, तो इनका कितना कदर होना चाहिए। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सर्व गुणों से अपना श्रृंगार करना है, कभी किसी को दु:ख नहीं देना है। सबको सुख का रास्ता बताना है।

2) सारी दुनिया कब्रिस्तान हुई पड़ी है इसलिए इससे दिल नहीं लगानी है। स्मृति रहे कि अभी हम ट्रांसफर हो रहे हैं, हमें तो नई दुनिया में जाना है।

वरदान:- प्रवृत्ति में रहते मेरे पन का त्याग करने वाले सच्चे ट्रस्टी, मायाजीत भव
जैसे गन्दगी में कीड़े पैदा होते हैं वैसे ही जब मेरापन आता है तो माया का जन्म होता है। माया-जीत बनने का सहज तरीका है-स्वयं को सदा ट्रस्टी समझो। ब्रह्माकुमार माना ट्रस्टी, ट्रस्टी की किसी में भी अटैचमेंट नहीं होती क्योंकि उनमें मेरापन नहीं होता। गहृस्थी समझेंगे तो माया आयेगी और ट्रस्टी समझेंगे तो माया भाग जायेगी इसलिए न्यारे होकर फिर प्रवृत्ति के कार्य में आओ तो मायाप्रूफ रहेंगे।
स्लोगन:- जहाँ अभिमान होता है वहाँ अपमान की फीलिंग जरूर आती है।

TODAY MURLI 10 SEPTEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 10 September 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 9 September 2019:- Click Here

10/09/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, for the length of time you stay in remembrance of the Father, you earn an income accordingly. It is by having this remembrance that you continue to come closer to the Father.
Question: About which aspect do the children who cannot stay in remembrance feel ashamed?
Answer: They feel too ashamed to keep a chart of remembrance. They wonder what Baba would say if they were to write the truth. However, if you children continue to write your charts honestly, there is benefit in this for you. There is a great deal of benefit in writing a chart. Baba says: Children, do not feel too ashamed to do this.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you children. You children come here 15 minutes early and sit in remembrance of the Father. Now, you don’t have anything else to do here. You come and sit here in remembrance of the Father. On the path of devotion, you did not have the Father’s introduction. Here, you have received the Father’s introduction. The Father says: Remember Me alone. I am the Father of all the children. By remembering the Father, you will automatically remember your inheritance. You are not babies. Even though you write that you are five months old or two months old, your physical organs are large. The spiritual Father explains that you have to sit here in remembrance of the Father and the inheritance. You know that you are presently occupied in making effort to change from an ordinary human into Narayan, that you are making effort to go to heaven. Therefore, you children should note down for how long you remembered Baba while sitting here. When you write your chart, the Father will understand. It is not that the Father knows for how long each one of you stays in remembrance. Only from your own chart can you understand whether you stayed in remembrance of the Father or whether your intellects were wandering in other direction. It is also in your intellects that Baba will now come and this too is remembrance. For how long did you remember Him? You should write this honestly in your chart. By writing a lie, you will accumulate one hundred-fold sin and there will be further loss. Therefore, you have to write the truth. The more you remember Him, the more your sins will be absolved and you know that you will also continue to come closer to Baba. Ultimately, when your remembrance is over, you will go to Baba. Then, some will quickly go down to play their parts in the new world and others will continue to sit up there. You will not have any thoughts there. That is the land of liberation where you are beyond sorrow and happiness. You are now making effort to go to the land of happiness. The more you stay in remembrance, the more your sins will be absolved. By keeping a chart of remembrance, you will be able to imbibe knowledge well. There is only benefit in keeping a chart. Baba knows that it is because you do not stay in remembrance that you feel too ashamed to write your chart. “What would Baba say?” Perhaps He would tell everyone in the murli. The Father says: There is no question of being ashamed about this. Each one of you knows in your heart whether you have remembrance or not. The benevolent Father explains: If you note down your chart, there will be benefit. Whilst you sat here waiting for Baba to come, what was your chart of remembrance? You should see the difference. Someone who is loved is remembered a great deal. When a kumar and a kumari become engaged, the remembrance of each other stays in their hearts. Even without seeing one another, they know they are engaged and after getting married, that remembrance becomes firm. You children now understand that Shiv Baba is your unlimited Father. Although you have not seen Him, you can understand Him with your intellects. OK, if that Father is beyond name and form, then why do you worship Him? Why do you remember Him? Nothing that is beyond name or form or is infinite can exist. Surely, that which is visible is spoken about. You can see the sky, and so you cannot say that it is infinite. People on the path of devotion remember God and say: Oh God! Therefore, you cannot call Him infinite. By saying “Oh God” you instantly remember Him and so He surely exists. Souls can be understood, they cannot be seen. There is only the one Father of all souls and you also have to know Him. You children know that the Father comes and teaches you. Previously, you did not know that He also teaches. They have put Krishna’s name in the Gita. Krishna is visible through these eyes. You cannot say of him that he is beyond name or form or that he is infinite. Krishna never says: Remember me alone. He is in front of you. He cannot be called Baba either. Mothers consider Krishna to be a baby and sit him (an idol of him) in their laps. On the day of Krishna’s birth, they rock him in a cradle. Does he always remain small? He is also shown dancing and so he must surely have grown a little. Whether he grew older, what happened to him or where he went, no one knows. He would not have always had a small body. People do not think about these things at all. This system of worshipping etc. carries on. None of them has any knowledge. They show Krishna taking birth in the land of the demon king, Kans. Now, there is no question of the land of the demon king, Kans. No one thinks about these things. Devotees say that Krishna is present everywhere and then they bathe him and also feed him. Now he (idol of Krishna) does not eat anything. They place all the food in front of the idol and then eat it themselves. That too is the path of devotion. They offer so much bhog at the Shrinath Temple, but he does not eat any of it. Those who offer it eat it! They do the same thing in the worship of the goddesses. They make idols of the goddesses, worship them and then sink them. They remove the jewellery from the idols and then sink them. Then, the many people that are there take away whatever they can get hold of. It is the goddesses that are worshipped the most. They make idols of both Lakshmi and Durga. The senior mother is also here. She is called Brahmaputra (child of Brahma). You would understand that they are worshipping her form of this birth and her future form. This is such a wonderful drama! These things cannot be mentioned in the scriptures. This is the practical activity. You children now have knowledge. You understand that most of the images that are created are of souls. When a sacrificial fire of Rudra is created, hundreds of thousands of saligrams are made. They never make hundreds of thousands of images of goddesses. However many worshippers there are, they would make that many idols of goddesses, whereas they make hundreds of thousands of saligrams at the same time. Neither do they have a fixed day for that, nor is there an auspicious time for it. However, they do have a fixed time for the worship of the goddesses. When a businessman has the thought of creating a sacrificial fire of Rudra and saligrams, he invites a brahmin priest. The one Father is called Rudra. Together with Rudra, they create many saligrams. Those businessmen tell them to create a certain number of saligrams, but they don’t have a fixed time or date for that. It is not that they worship Rudra on Shiv Jayanti. No, generally, they fix Thursday as the auspicious day. On Deepmala, they place an idol of Lakshmi on a tray, worship it and then put it away. That is called Mahalakshmi, the dual-form. People do not know about these matters. Where could Lakshmi get money from? She needs a partner. This Lakshmi and Narayan are a couple and they have been given the name Mahalakshmi. When did the goddesses come into existence? When did Mahalakshmi exist? People do not know any of these things. The Father now sits here and explains to you. Even all of you are not able to imbibe these things to the same extent. Baba explains so much and then asks: Do you remember Shiv Baba? Do you remember the inheritance? This is the main thing. They waste so much money on the path of devotion. Here, not a single penny of yours is wasted. You do service in order to become solvent. People spend a lot of money on the path of devotion and they become insolvent. Everything turns to dust. There is such a vast difference. Whatever you do at this time, you give to Shiv Baba for Godly service. Shiv Baba does not eat anything; you eat it. You Brahmins are the trustees in between. You do not give anything to Brahma; you give to Shiv Baba. Some say: Baba, I have brought a dhoti and a shirt for you. Baba says: You will not accumulate anything by giving to this one. You will only accumulate when you give to this one in remembrance of Shiv Baba. You also know that Brahmins are sustained from Shiv Baba’s treasure-store. There is no need to ask Baba what you should send. He will not take anything. You will not accumulate anything by remembering Brahma. Brahma himself has to take from Shiv Baba’s treasure-store, so then, he would only remember Shiv Baba. Why should he accept anything from you? It is wrong to give to a BK. Baba has explained that if you accept something from anyone and wear it, you will constantly remember that person. If it is something small, it doesn’t matter, but if it is something very good, then that would remind you of that person even more. “So-and-so gave me this”. They do not accumulate anything, it becomes a loss. Shiv Baba says: Remember Me alone. I have no need of clothes etc. It is the children who need clothes etc. and they will obtain them from Shiv Baba’s treasure-store. I do not have a body of My own. This one has the right to take from Shiv Baba’s treasure-store. He also has the right to the kingdom. You children eat and drink in the Father’s home. You also do service and earn an income. The more service you do, the more income you earn. You eat and drink from Shiv Baba’s treasure-store. If you do not give to Him, you do not accumulate anything. You have to give to Shiv Baba alone. Baba, through You, we will become multimillion times fortunate for our future 21 births. Our money will be finished. Therefore, we give to the One who is powerful. The Father is powerful. He gives you everything for 21 births. People also give indirectly in the name of God. There isn’t as much power in giving something indirectly. You now receive a lot of power because He is personally in front of you. It is now that the World Almighty Authority exists. When you donate something in the name of God, you receive something in return for a temporary period. Here, the Father explains to you that He is personally in front of you and that He is the One who gives everything. This one also gave everything to Shiv Baba and received the kingdom of the whole world in return. You also know that it is visions of the avyakt form that you have through this corporeal one. Shiv Baba enters this one and speaks to you children. You should never have any thought of wanting to take anything from human beings. Tell them: Send it to Shiv Baba’s treasure-store. You will not receive anything in return by giving to this one. You will incur an even greater loss. If someone is poor, he would perhaps give something worth three to four rupees. If he were to put it into Shiv Baba’s treasure-store instead, he would accumulate multimillions. You must not incur a loss for yourselves. It is the goddesses that are generally worshipped, because you goddesses become the instruments to give knowledge. Although brothers also explain, it is generally the mothers who become teachers and show this path to others. This is why the goddesses are remembered more. The goddesses are worshipped a great deal. You children also understand that you were worthy of worship for half a cycle. At first, you were fully worthy of worship. Then, because you lost two degrees, you became semi-worthy of worship. The silver age is called the dynasty of Rama. They speak of hundreds of thousands of years and so nothing can be calculated. There is the difference of day and night between the intellects of you children and of those on the path of devotion. You have Godly intellects whereas they have devilish intellects. It is in your intellects that this whole cycle is of 5000 years and that it continues to turn. Those in the night say that it is hundreds of thousands of years and those in the day say that it is 5000 years. For half the cycle you heard false things on the path of devotion. Such things do not exist in the golden age. There, you receive your inheritance. You now receive direct instructions. This is the Shrimad Bhagawad Gita. The word “shrimat” is not mentioned in any other scripture. This most auspicious confluence age, the age of the Gita, comes every 5000 years. It cannot be a question of hundreds of thousands of years. Explain the confluence age to anyone who comes. The unlimited Father has given you the introduction of the Creator, that is, of Himself and His creation. Even then, He says: Achcha, remember the Father! If you are unable to imbibe knowledge, just consider yourself to be a soul and remember the Father. You have to become pure. You are claiming the inheritance from the Father and so you also have to imbibe divine virtues. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to accumulate an income of multimillions for 21 births, use everything you have directly in a worthwhile way for Godly service. Become a trustee and do service in Shiv Baba’s name.
  2. Check where your intellect goes whilst you are sitting in remembrance. Keep a true chart of your remembrance. In order to become Narayan from an ordinary human, stay in remembrance of the Father and the inheritance.
Blessing: May you be ignorant of the knowledge of desire and stay in the happiness of your elevated fortune with the awareness of your imperishable attainments.
Just imagine what the fortune would be of someone whose Father is the Bestower of Fortune Himself. Always have the happiness that fortune is your birthright. “Wah my elevated fortune! Wah the Father, the Bestower of Fortune!” Continue to sing this song and fly in happiness. You have received an imperishable treasure which will be with you for many births; no one can snatch it away or loot it from you. It is such great fortune that you have no desires. You found happiness of mind for you attained all attainments. There is nothing lacking and so you become ignorant of the knowledge of desire.
Slogan: The time of performing sinful acts has passed, but wasteful thoughts and words still deceive you a lot.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 10 SEPTEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 September 2019

To Read Murli 9 September 2019:- Click Here
10-09-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम जितना समय बाप की याद में रहेंगे उतना समय कमाई ही कमाई है, याद से ही तुम बाप के समीप आते जायेंगे”
प्रश्नः- जो बच्चे याद में नहीं रह सकते हैं, उन्हें किस बात में लज्जा आती है?
उत्तर:- अपना चार्ट रखने में उन्हें लज्जा आती। समझते हैं सच लिखेंगे तो बाबा क्या कहेंगे। लेकिन बच्चों का कल्याण इसमें ही है कि सच्चा-सच्चा चार्ट लिखते रहें। चार्ट लिखने में बहुत फायदे हैं। बाबा कहते – बच्चे, इसमें लज्जा मत करो।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। अब तुम बच्चे 15 मिनट पहले आकर यहाँ बाप की याद में बैठते हो। अब यहाँ और तो कोई काम है नहीं। बाप की याद में ही आकर बैठते हो। भक्ति मार्ग में तो बाप का परिचय है नहीं। यहाँ बाप का परिचय मिला है और बाप कहते हैं मामेकम् याद करो। मैं तो सब बच्चों का बाप हूँ। बाप को याद करने से वर्सा तो ऑटोमेटिकली याद आना चाहिए। छोटे बच्चे तो नहीं हो ना। भल लिखते हैं हम 5 मास वा 2 मास के हैं परन्तु तुम्हारी कर्मेन्द्रियां तो बड़ी हैं। तो रूहानी बाप समझाते हैं, यहाँ बाप और वर्से की याद में बैठना है। जानते हो हम नर से नारायण बनने के पुरूषार्थ में तत्पर हैं वा स्वर्ग में जाने के लिए पुरूषार्थ कर रहे हैं। तो यह बच्चों को नोट करना चाहिए – हमने यहाँ बैठे-बैठे कितना समय याद किया? लिखने से बाप समझ जायेंगे। ऐसे नहीं कि बाप को मालूम पड़ता है – हर एक कितना समय याद में रहते हैं? वह तो हर एक अपने चार्ट से समझ सकते हैं – बाप की याद थी या बुद्धि कहाँ और तरफ चली गई? यह भी बुद्धि में है अभी बाबा आयेंगे तो यह भी याद ठहरी ना। कितना समय याद किया, वह चार्ट में सच लिखेंगे। झूठ लिखने से तो और ही सौगुणा पाप चढ़ेगा और ही नुकसान हो जायेगा इसलिए सच लिखना है – जितना याद करेंगे उतना विकर्म विनाश होंगे। और यह भी जानते हो हम नज़दीक आते जाते हैं। आखरीन जब याद पूरी हो जायेगी तो हम फिर बाबा के पास चले जायेंगे। फिर कोई तो झट नई दुनिया में आकर पार्ट बजायेंगे, कोई वहाँ ही बैठे रहेंगे। वहाँ कोई संकल्प तो आयेगा नहीं। वह है ही मुक्तिधाम, दु:ख-सुख से न्यारे। सुखधाम में जाने के लिए अब तुम पुरूषार्थ करते हो। जितना तुम याद करेंगे उतना विकर्म विनाश होंगे। याद का चार्ट रखने से ज्ञान की धारणा भी अच्छी होगी। चार्ट रखने में तो फायदा ही है। बाबा जानते हैं याद में न रहने कारण लिखने में लज्जा आती है। बाबा क्या कहेंगे, मुरली में सुना देंगे। बाप कहते हैं इसमें लज्जा की क्या बात है। दिल अन्दर हर एक समझ सकते हैं – हम याद करते हैं वा नहीं? कल्याणकारी बाप तो समझाते हैं, नोट करेंगे तो कल्याण होगा। जब तक बाबा आये, उतना समय जो बैठे उसमें याद का चार्ट कितना रहा? फ़र्क देखना चाहिए। प्यारी चीज़ को तो बहुत याद किया जाता है। कुमार-कुमारी की सगाई होती है तो दिल में एक-दो की याद ठहर जाती है। फिर शादी होने से पक्की हो जाती है। बिगर देखे समझ जाते हैं – हमारी सगाई हुई है। अभी तुम बच्चे जानते हो कि शिवबाबा हमारा बेहद का बाप है। भल देखा नहीं है परन्तु बुद्धि से समझ सकते हो, वह बाप अगर नाम-रूप से न्यारा है तो फिर पूजा किसकी करते हो? याद क्यों करते हो? नाम-रूप से न्यारी बेअन्त तो कोई चीज़ होती नहीं। जरूर चीज़ को देखा जाता है तब वर्णन होता है। आकाश को भी देखते हैं ना। बेअन्त कह नहीं सकते। भक्ति मार्ग में भगवान को याद करते है – ‘हे भगवान’ तो बेअन्त थोड़ेही कहेंगे। ‘हे भगवान’ कहने से तो झट उनकी याद आती है तो जरूर कोई चीज़ है। आत्मा को भी जाना जाता है, देखा नहीं जाता।

सब आत्माओं का एक ही बाप होता है, उनको भी जाना जाता है। तुम बच्चे जानते हो – बाप आकर पढ़ाते भी हैं। आगे यह मालूम नहीं था कि पढ़ाते भी हैं। कृष्ण का नाम डाल दिया है। कृष्ण तो इन आंखों से देखने में आता है। उनके लिए तो बेअन्त, नाम-रूप से न्यारा कह न सकें। कृष्ण तो कभी कहेंगे नहीं – मामेकम् याद करो। वह तो सम्मुख है। उनको बाबा भी नहीं कहेंगे। मातायें तो कृष्ण को बच्चा समझ गोद में बिठाती हैं। जन्माष्टमी पर छोटे कृष्ण को झुलायेंगे। क्या सदैव छोटा ही है! फिर रास विलास भी करते हैं। तो जरूर थोड़ा बड़ा हुआ फिर उनसे बड़ा हुआ वा क्या हुआ, कहाँ गया, किसको भी पता नहीं। सदैव छोटा शरीर तो नहीं होगा ना। कुछ भी ख्याल नहीं करते हैं। यह पूजा आदि की रस्म चली आती है। ज्ञान तो कोई में है नहीं। दिखाते हैं कृष्ण ने कंसपुरी में जन्म लिया। अब कंसपुरी की तो बात ही नहीं। कोई का भी विचार नहीं चलता। भक्त लोग तो कहेंगे कृष्ण हाज़िराहज़ूर है फिर उनको स्नान भी कराते हैं, खिलाते भी हैं। अब वह खाता तो नहीं। रखते हैं मूर्ति के सामने और खुद खा लेते हैं। यह भी भक्ति मार्ग हुआ ना। श्रीनाथ जी पर इतना भोग लगाते हैं, वह तो खाता नहीं, खुद खा जाते हैं। देवियों की पूजा में भी ऐसे करते हैं। खुद ही देवियाँ बनाते हैं, उनकी पूजा आदि कर फिर डुबो देते हैं। जेवरात आदि उतारकर ड़ुबोते हैं फिर वहाँ तो बहुत रहते हैं, जिसको जो हाथ में आया वह उठा लेते हैं। देवियों की ही जास्ती पूजा होती है। लक्ष्मी और दुर्गा दोनों की मूर्तियाँ बनाते हैं। बड़ी मम्मा भी यहाँ बैठी है ना, जिसको ब्रह्मपुत्रा भी कहते हैं। समझेंगे ना कि इस जन्म और भविष्य के रूप की पूजा कर रहे हैं। कितना वन्डरफुल ड्रामा है। ऐसी-ऐसी बातें शास्त्रों में आ न सकें। यह है प्रैक्टिकल एक्टिविटी। तुम बच्चों को अब ज्ञान है। समझते हो सबसे जास्ती चित्र बनाये हैं आत्माओं के। जब रूद्र यज्ञ रचते हैं तो लाखों सालिग्राम बनाते हैं। देवियों के कब लाखों चित्र नहीं बनायेंगे। वह तो जितने पुजारी होंगे उतनी देवियाँ बनाते होंगे। वह तो एक ही टाइम पर लाख सालिग्राम बनाते हैं। उनका कोई फिक्स दिन नहीं होता है। कोई मुहूर्त्त आदि नहीं होता है। जैसे देवियों की पूजा फिक्स टाइम पर होती है। सेठ लोगों को तो जब ख्याल में आयेगा कि रूद्र या सालिग्राम रचें तो ब्राह्मण बुलायेंगे। रूद्र कहा जाता है एक बाप को फिर उनके साथ ढेर सालिग्राम बनाते हैं। वो सेठ लोग कहते हैं इतने सालिग्राम बनाओ। उनकी तिथि-तारीख कोई मुकरर नहीं होती। ऐसे भी नहीं कि शिव जयन्ती पर ही रूद्र पूजा करते हैं। नहीं, अक्सर करके शुभ दिन बृहस्पति को ही रखते हैं। दीपमाला पर लक्ष्मी का चित्र थाली में रखकर उनकी पूजा करते हैं। फिर रख देते हैं। वह है महालक्ष्मी, युगल हैं ना। मनुष्य इन बातों को जानते नहीं। लक्ष्मी को पैसे कहाँ से मिलेंगे? युगल तो चाहिए ना। तो यह (लक्ष्मी-नारायण) युगल हैं। नाम फिर महालक्ष्मी रख देते हैं। देवियाँ कब हुई, महालक्ष्मी कब होकर गई? यह सब बातें मनुष्य नहीं जानते हैं। तुमको अब बाप बैठ समझाते हैं। तुम्हारे में भी सबको एकरस धारणा नहीं होती है। बाबा इतना सब समझाकर फिर भी कहते शिवबाबा याद है? वर्सा याद है? मूल बात है यह। भक्ति मार्ग में कितना पैसा वेस्ट करते हैं। यहाँ तुम्हारी पाई भी वेस्ट नहीं होती है। तुम सर्विस करते हो सालवेन्ट बनने के लिए। भक्ति मार्ग में तो बहुत पैसे खर्च करते हैं, इनसालवेन्ट बन पड़ते हैं। सब मिट्टी में मिल जाता है। कितना फर्क है! इस समय जो कुछ करते हैं वह ईश्वरीय सर्विस में शिवबाबा को देते हैं। शिवबाबा तो खाते नहीं हैं, खाते तुम हो। तुम ब्राह्मण बीच में ट्रस्टी हो। ब्रह्मा को नहीं देते हो। तुम शिवबाबा को देते हो। कहते हैं – बाबा, आपके लिए धोती-कमीज़ लाई है। बाबा कहते हैं – इनको देने से तुम्हारा कुछ भी जमा नहीं होगा। जमा वह होता है जो तुम शिवबाबा को याद कर इनको देते हो। फिर यह तो समझते हो ब्राह्मण शिवबाबा के खजाने से ही पलते हैं। बाबा से पूछने की दरकार नहीं है कि क्या भेजूँ? यह तो लेंगे नहीं। तुम्हारा जमा ही नहीं होगा, अगर ब्रह्मा को याद किया तो। ब्रह्मा को तो लेना है शिवबाबा के खजाने से। तो शिवबाबा ही याद पड़ेगा। तुम्हारी चीज़ क्यों लेवें। बी.के. को देना भी रांग है। बाबा ने समझाया है तुम कोई से भी चीज़ लेकर पहनेंगे तो उनकी याद आती रहेगी। कोई हल्की चीज़ है तो उनकी बात नहीं। अच्छी चीज़ तो और ही याद दिलायेगी – फलाने ने यह दिया है। उनका कुछ जमा तो होता नहीं। तो घाटा पड़ा ना। शिवबाबा कहते हैं मामेकम् याद करो। मुझे कपड़े आदि की दरकार नहीं। कपड़े आदि बच्चों को चाहिए। वह शिवबाबा के खजाने से पहनेंगे। मुझे तो अपना शरीर है नहीं। यह तो शिवबाबा के खजाने से लेने के हकदार हैं। राजाई के भी हकदार हैं। बाप के घर में ही बच्चे खाते पीते हैं ना। तुम भी सर्विस करते, कमाई करते रहते हो। जितनी सर्विस बहुत, उतनी बहुत कमाई होगी। खायेंगे, पियेंगे शिवबाबा के भण्डारे से। उनको नहीं देंगे तो जमा ही नहीं होगा। शिवबाबा को ही देना होता है। बाबा, आपसे भविष्य 21 जन्मों के लिए पद्मापद्मपति बनेंगे। पैसे तो खत्म हो जायेंगे इसलिए समर्थ को हम दे देते हैं। बाप समर्थ हैं ना। 21 जन्मों के लिए वह देते हैं। इनडायरेक्ट भी ईश्वर अर्थ देते हैं ना। इनडायरेक्ट में इतना समर्थ नहीं है। अभी तो बहुत समर्थ है क्योंकि सम्मुख है। वर्ल्ड ऑलमाइटी अथॉरिटी इस समय के लिए है।

ईश्वर अर्थ कुछ दान-पुण्य करते हैं तो अल्पकाल के लिए कुछ मिल जाता है। यहाँ तो बाप तुमको समझाते हैं – मैं सम्मुख हूँ। मैं ही देने वाला हूँ। इसने भी शिवबाबा को सब कुछ देकर सारे विश्व की बादशाही ले ली ना। यह भी जानते हो – इस व्यक्त का ही अव्यक्त रूप में साक्षात्कार होता है। इनमें शिवबाबा आकर बच्चों से बात करते हैं। कभी भी यह ख्याल नहीं करना चाहिए – हम मनुष्य से लेवें। बोलो, शिवबाबा के भण्डारे में भेज दो, इनको देने से तो कुछ नहीं मिलेगा, और ही घाटा पड़ जायेगा। गरीब होंगे, करके 3-4 रूपये की कोई चीज़ तुमको देंगे। इनसे तो शिवबाबा के भण्डारे में डालने से पद्म हो जायेगा। अपने को घाटा थोड़ेही डालना है। पूजा अक्सर देवियों की ही होती है क्योंकि तुम देवियां ही खास निमित्त बनती हो ज्ञान देने के। भल गोप भी समझाते हैं परन्तु अक्सर करके तो मातायें ही ब्राह्मणी बन रास्ता बताती हैं इसलिए देवियों का नाम जास्ती है। देवियों की बहुत पूजा होती है। यह भी तुम बच्चे समझते हो आधाकल्प हम पूज्य थे। पहले हैं फुल पूज्य, फिर सेमी पूज्य क्योंकि दो कला कम हो जाती है। राम की डिनायस्टी कहेंगे त्रेता में। वह तो लाखों वर्ष की बात कह देते हैं, तो उनका कोई हिसाब ही नहीं हो सकता। भक्ति मार्ग वालों की बुद्धि में और तुम्हारी बुद्धि में कितना रात-दिन का फ़र्क है! तुम हो ईश्वरीय बुद्धि, वह हैं रावण की बुद्धि। तुम्हारी बुद्धि में है कि यह सारा चक्र ही 5 हज़ार वर्ष का है, जो फिरता रहता है। जो रात में हैं वह कहते हैं लाखों वर्ष, जो दिन में हैं वह कहते 5 हज़ार वर्ष। आधाकल्प भक्ति मार्ग में तुमने असत्य बातें सुनी हैं। सतयुग में ऐसी बातें होती ही नहीं। वहाँ तो वर्सा मिलता है। अब तुमको डायरेक्ट मत मिलती है। श्रीमद् भगवत गीता है ना। और कोई शास्त्र पर श्रीमद् नाम है नहीं। हर 5हज़ार वर्ष बाद यह पुरूषोत्तम संगमयुग, गीता का युग आता है। लाखों वर्ष की तो बात हो नहीं सकती है। कभी भी कोई आये तो ले जाओ संगम पर। बेहद के बाप ने रचयिता अर्थात् अपना और रचना का सारा परिचय दिया है। फिर भी कहते हैं – अच्छा, बाप को याद करो, और कुछ धारणा नहीं कर सकते हो तो अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। पवित्र तो बनना ही है। बाप से वर्सा लेते हो तो दैवीगुण भी धारण करने हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) 21 जन्मों के लिए पद्मों की कमाई जमा करने के लिए डायरेक्ट ईश्वरीय सेवा में सब कुछ सफल करना है। ट्रस्टी बन शिवबाबा के नाम पर सेवा करनी है।

2) याद में जितना समय बैठते, उतना समय बुद्धि कहाँ-कहाँ गई – यह चेक करना है। अपना सच्चा-सच्चा पोतामेल रखना है। नर से नारायण बनने के लिए बाप और वर्से की याद में रहना है।

वरदान:- अविनाशी प्राप्तियों की स्मृति से अपने श्रेष्ठ भाग्य की खुशी में रहने वाले इच्छा मात्रम् अविद्या भव
जिसका बाप ही भाग्य विधाता हो उसका भाग्य क्या होगा! सदा यही खुशी रहे कि भाग्य तो हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है। “वाह मेरा श्रेष्ठ भाग्य और भाग्य विधाता बाप” यही गीत गाते खुशी में उड़ते रहो। ऐसा अविनाशी खजाना मिला है जो अनेक जन्म साथ रहेगा, कोई छीन नहीं सकता, लूट नहीं सकता। कितना बड़ा भाग्य है जिसमें कोई इच्छा नहीं, मन की खुशी मिल गई तो सर्व प्राप्तियां हो गई। कोई अप्राप्त वस्तु है ही नहीं इसलिए इच्छा मात्रम् अविद्या बन गये।
स्लोगन:- विकर्म करने का टाइम बीत गया, अभी व्यर्थ संकल्प, बोल भी बहुत धोखा देते हैं।

TODAY MURLI 10 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 10 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 9 September 2018 :- Click Here

10/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, there is only the one company of the Truth through which you attain salvation; you souls become pure. All the rest is bad company. This is why it is said: The company of the Truth takes you across and bad company drowns you.
Question: What is the Father’s task which no other founder of a religion can do?
Answer: The Father’s task is to make everyone pure from impure and take them back home. The Father comes to liberate everyone from their bodies, that is, to grant death to everyone. No founder of a religion can accomplish this task. In fact, when all the souls follow the founder of their religion down from up above, they are pure. Then, while playing their own parts , they become impure from pure.
Song: Awaken, o brides, awaken! The new age is about to come.

Om shanti. You children heard the song. Who sang it? The Bridegroom. All are brides; they are also called devotees. God is the One whom devotees remember and so He is called the Bridegroom. Both males and females are included in ‘devotee’. Therefore everyone becomes a Sita, whereas there is only the one Rama. There are many devotees, but only the one God. That God is called the Supreme Father. A physical father cannot be called the Supreme Father. That is a father who gives you a physical body. The Supreme Father resides in the supreme region. He is the Father of all souls. Every human being has two fathers: one is a physical father and the other is the spiritual Father. The inheritance you receive in each birth from a physical father is different. In each birth you have a different father. Just consider how many births you take and how many fathers you would have had. (84.) Yes, in 84 births you surely had 84 fathers and 84 mothers. In every birth you would have one physical mother and one physical father. The other father is the Supreme Father, the Supreme Soul. However, in the golden and silver ages you never remember Him or say: O God , the Father! O Supreme Father, Supreme Soul, have mercy! You never say these words there. This is why it is explained that you just have one father in the golden and silver ages. Then, in the copper and iron ages, which are called the path of devotion, everyone has two fathers. Both males and females have two fathers. Everyone remembers the spiritual Father because this is the land of sorrow. You have two fathers in the land of sorrow and just one father in the land of happiness. Here, one is your physical father, and the other is the Father who liberates everyone from sorrow, whom everyone remembers and to whom they say: Liberate us from sorrow and have mercy on us! For half a cycle there is the land of sorrow and for the other half it is the land of happiness. The golden age is the new age, and the iron age is the old age. The Father says: I am now establishing the golden age, the new world. The old iron age is to be destroyed. The golden age will come after the iron age. The end of the iron age and the beginning of the golden age is called the confluence of the cycles. This is the beneficial age, because it is the age when you have to become pure from impure. There are impure human beings in the iron age and pure deities in the golden age. The Father explains that this is the devilish community of Ravan; the five vices are present in everyone. It can be said that Ravan is omnipresentGod is not omnipresent. The five vices are present in everyone, which is why this is called the impure world. The golden and silver ages are called the pure world, Shivalaya (Temple of Shiva). The iron age is a brothel. Therefore, the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, comes to establish the new age. The Father explains: Awaken now! The time has come for the new age, that is, for the land of happiness. The kingdom of Lakshmi and Narayan is about to come. This is Raja Yoga. This is not a common satsang. One is the company of the Truth and the other is the company of falsehood, bad company. The company of the Truth takes you across and bad company makes you drown. Only the one Father is the Truth. People call out to Him: O Purifier come! It is He who comes and purifies you for half the cycle. Then, Maya, Ravan, comes and makes you impure for the other half cycle. It is not that the Father makes you impure. It is now the kingdom of Ravan. There can be no company of the Truth until the true Father comes. All other types of company are false; they are bad company. You are the Sitas who do devotion. You understand that God will come and give you the fruit of your devotion. Therefore, He would definitely come when the time of devotion is about to end. For half a cycle there is the reward of knowledge and for half a cycle it is the reward of devotion. You are now making effort on the basis of God’s shrimat. There is only one God and He is the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, the Father of souls. He only comes at the confluence age. The copper and iron ages are called the period of the activity of devotion. The golden and silver ages are called the period of the activity of knowledge. It is the Ocean of Knowledge, the Supreme Father, the Supreme Soul, who has this knowledge. Knowledge of the scriptures is not knowledge. If they contained knowledge, you would attain salvation. Bharat was like a diamond; it is no longer that. The Father comes and makes it like that again. You are now becoming like diamonds. Your life is being transformed. You souls are imbibing divine virtues. Normally, people become barristers, engineers and surgeons etc., but it is the task of the Supreme Father, the Supreme Soul, the Ocean of Knowledge, to make human being into deities. He alone is called the Truth. Only He tells the truth, that is, He is the One who establishes the land of truth, whereas all the rest tell lies. They are the ones who establish the land of falsehood. They follow the dictates of Ravan. You become elevated on the basis of following shrimat. Bharat was new in the new age. It was called the kingdom of the World Almighty Authority. It was the kingdom of Lakshmi and Narayan. Who gave them their fortune of that kingdom? Surely, it must have been the One who established heaven. While taking 84 births, you lost that inheritance. The cycle is now coming to its completion and everyone has to go back. Only the one Father is the Liberator. Only He liberates everyone and takes everyone back home. This is why He is also called the Death of Deaths. The Father says: Your 84 births are now over and you have to return home. The Father sits here and explains how this world cycle turns, that is, He makes you into knowers of the three aspects of time. He gives you the knowledge of the three worlds and the three aspects of time. He alone is the Purifier, the Ocean of Knowledge and the Seed. It is from Him that you receive your inheritance of the land of truth. You have come here in order to claim your inheritance from the Supreme Father, the Supreme Soul, the One who establishes heaven. You understand that you are the ones who become the masters of heaven again. Lakshmi and Narayan etc. of the golden age are said to belong to the deity religion, which is the most elevated religion. Their religion is elevated and their actions are also elevated. No one there is degraded, whereas in the copper and iron ages there is not a single elevated person. It is because of forgetting the Father that everyone has reached such a bad state. Then, the Father comes and makes you pure from impure. The founders of religions do not come to purify the impure. Only the one Father is the Purifier. He alone is the True Guru. All the others come to establish their own religions. Pure souls come from up above and then become impure. At this time, all are impure. It is the Father’s task to purify everyone. He alone is the Purifier. Guru Nanak also sang praise of that Satguru. The great (Mahabharat) war is for the destruction of this old world. It is not that you are given knowledge on a battlefield. You need solitude to study knowledge. You have to stay in a bhatthi for seven days. All the rest is the paraphernalia of the path of devotion. Even some of the devotees are very powerful. There is the rosary of Rudra as well as the rosary of devotees. That is the rosary of devotees and this is the rosary of knowledge. At the beginning (of the rosary) is Shiva, then the dual-bead and then their clan. Human beings turn this. They chant “Rama, Rama” because they are unhappy. The community of Ravan remembers Rama (God) and says: Come and make us belong to You. You have now come into God’s lap. In fact, all souls are children of the Supreme Father, the Supreme Soul. All human beings of this world are the children of Prajapita Brahma. The human world was created through Prajapita Brahma. Souls are imperishable and the Father of souls is also imperishable. You now have two fathers; one is perishable and the other is imperishable. Brahma also sheds his body. Shiv Baba doesn’t have a body of His own; He is beyond birth and death. It is you children who come into birth and death. Only you original, eternal deities take 84 births. There is an account of this. It is only 500 years since Guru Nanak existed. Therefore, how could he take 84 births? There is no question of hundreds of thousands of births. The Father explains that everyone’s births have now come to an end and that the play will begin anew in the golden age. Very few are required for the golden age, so where will everyone else go? It is for them that this haystack is to be set ablaze. Everything will be destroyed by bombs and natural calamities etc., and all souls will return to the land of liberation. This is the time of settlement for everyone; everyone has to go back. Bharat is called the imperishable land because it is Bharat that is the Father’s birthplace. Shiv Baba only comes in Bharat. Since the Purifier Father takes birth here, Bharat must be the greatest pilgrimage place for the people of all religions. Such is the importance of Bharat. However, this importance has been blown away. The Father comes and explains that this too is part of the drama. The Father says: Only I am the Ocean of Knowledge. Lakshmi and Narayan cannot be called the Ocean of Knowledge. They do not have the knowledge of the Creator or the beginning, the middle and the end of creation. That knowledge is definitely in you. It is you who become deities from human beings. You come here to become pure from impure and to become the masters of the pure world. The Father sits here and speaks to you souls. The incorporeal Father takes this one’s organs on loan and teaches you souls and you souls listen through your organs. Baba has explained that a soul is like a star and that it resides in the centre of the forehead and that that Father is the Supreme Soul. That Supreme comes and makes you souls as supreme as He is and takes you back with Him. He is the Guide for all souls. He alone is called the Bestower of Happiness and the Remover of Sorrow. He will liberate you from sorrow and take you back with Him. There is no sorrow in the golden age. The knowledge of the new age is also new. People have never even heard these things. Although there are good and bad people, everyone is still impure. This is why they go to the Ganges to bathe and be purified. The Ganges has been given the name of “Purifier”. In fact, only the Father can be called, “The Purifier”. At the end of the impure world, the pure world is established. The golden age is called the viceless world. The world above is the incorporeal ,silence world. Souls come down here to play their parts. Your part are of 84 births: you play all-round part s. This drama is predestined. Everyone has his own imperishable part within him which can never be erased. You will continue to experience 84 births. The cycle has no beginning or end. The question “When did the drama begin?” can never arise; it doesn’t have a beginning or an end. The beginning of the golden age was the truth, it is the truth and it will be the truth. By understanding this cycle, you become the rulers of the globe, emperors and empresses of heaven. That is called the world almighty authority kingdom and it is received from the World Almighty Father. You receive your inheritance of constant happiness for 21 generations from the unlimited Father. The Father is called Heavenly God, the Father. The Father who gives you the inheritance of heaven says: I come at the confluence age of the cycle to give you your inheritance of heaven. Those who make effort will come into the kingdom of the sun dynasty. This is not a common satsang; this is the Godly University. These are God’s versions. God teaches human beings and makes them into deities. There is no other satsang where they say that they will make you into deities from human beings. You children are now making effort to claim a deity status in the new world. You should explain that there are two fathers: one is the unlimited Father and the other is a limited father. We are claiming our inheritance from the unlimited Father and we also advise you to claim your inheritance from Him. By following the directions of the most elevated One of all, the Supreme Father, the Supreme Soul, you can become the masters of heaven. Only the one Father is the Truth. He comes and teaches you. He says through this one’s organs: Through the body of Brahma, I grant My inheritance to you mouth-born children of Brahma. You receive the Grandfather’s inheritance through Brahma. All souls have a right to the Grandfather’s inheritance. In worldly relationships, only males receive an inheritance. You are all souls and you are therefore all brothers. You all receive the inheritance from Shiv Baba. You are receiving your inheritance from the Grandfather. The Father says: I make you worthy of being in a temple. Just look how much anger there is in human beings. They destroy one another. This is a brothel. It used to be the Temple of Shiva and it will become that again. The Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, comes and makes it into the Temple of Shiva. He liberates you from the brothel and then, as the Guide, takes you back to the Temple of Shiva. Everyone will be liberated from their old bodies and return home with Me. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Imbibe divine virtues and transform your own life. In order to go to the land of truth, remain true to the true Father.
  2. Stay in the true company of the one true Father. Study this knowledge very well to become deities from human beings and claim your unlimited inheritance.
Blessing: May you be multimillion times fortunate and make your fortune elevated by performing elevated acts.
The lines of fortune of those whose acts are elevated, are just as long and clear. The way to make your fortune is with your elevated acts. So, be one who performs elevated acts and attain the fortune of being multimillion times fortunate. However, the basis of elevated acts is having an elevated awareness. It is only by staying in the awareness of the most elevated Father of all that you will perform elevated acts and thereby draw a line of fortune as long as you want. You can create a fortune for many births in this one birth.
Slogan: To make others content with your personality of contentment is to be a jewel of contentment.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 10 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 September 2018

To Read Murli 9 September 2018 :- Click Here
10-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – सत का संग एक ही है जिससे तुम्हारी सद्गति होती है, आत्मा पावन बनती है, बाकी सब हैं कुसंग, इसलिए कहा जाता – संग तारे कुसंग बोरे”
प्रश्नः- बाप का ऐसा कौनसा कर्तव्य है जो कोई भी धर्म स्थापक नहीं कर सकता?
उत्तर:- बाप का कर्तव्य है सबको पतित से पावन बनाकर वापिस घर ले जाना। बाप आते हैं – सबको इन शरीरों से मुक्त करने अर्थात् मौत देने। यह काम कोई धर्म स्थापक नहीं कर सकता। उनके पिछाड़ी तो उनके धर्म की पावन आत्मायें ऊपर से उतरती हैं और अपना-अपना पार्ट बजाए पावन से पतित बनती हैं।
गीत:- जाग सजनिया जाग……..

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। किसने सुनाया? साजन ने। सब हैं सजनियां जिसको भक्तियां कहा जाता है। भगवान् एक है, जिसको भक्त याद करते हैं। तो उसको कहा जाता है साजन। भक्त कहने से मेल अथवा फीमेल दोनों उसमें आ जाते हैं। तो सब हो गई सीतायें। राम एक है। भक्त अनेक हैं, भगवान् एक है। उस भगवान् को कहा जाता है परमपिता। लौकिक बाप को परमपिता नहीं कहेंगे। वह है लौकिक शरीर देने वाला पिता। परमपिता है परमधाम में रहने वाला, सब आत्माओं का पिता। हर एक मनुष्य को दो बाप हैं – एक लौकिक, दूसरा पारलौकिक बाप। लौकिक बाप का जन्म बाई जन्म वर्सा अलग होता है। हर एक जन्म में बाप अलग-अलग रहते हैं। तुम विचार करो कितने जन्म लेते हैं, कितने बाप मिलते होंगे? (84) हाँ 84 जन्मों में जरूर 84 बाप और 84 माँ मिलेंगे। हर जन्म में एक ही लौकिक बाप और एक ही माँ रहती है। दूसरा बाप है परमपिता परमात्मा। परन्तु सतयुग-त्रेता में कभी ओ गॉड फादर कह याद नहीं करते। हे परमपिता परमात्मा मेहर करो – ऐसे कभी नहीं कहते इसलिए समझाया जाता है – सतयुग-त्रेता में एक ही बाप होता है। फिर द्वापर-कलियुग, जिसको भक्ति मार्ग कहा जाता है – वहाँ सबको दो बाप हैं। मेल अथवा फीमेल सबको दो बाप हैं। पारलौकिक बाप को याद करते हैं क्योंकि यह दु:खधाम है। दु:खधाम में दो बाप, सुखधाम में है एक ही बाप। यहाँ तो एक लौकिक बाप है, दूसरा फिर सबके दु:ख निवारण करने वाला बाप है। जिसको सभी याद करते हैं कि इस दु:ख से छुड़ाओ, रहम करो। आधाकल्प है दु:खधाम, आधाकल्प है सुखधाम। सतयुग है नया युग, कलियुग है पुराना युग। बाप कहते हैं अब हम सतयुग नई दुनिया की स्थापना कर रहे हैं। कलियुग पुराने युग का विनाश होना है। कलियुग के बाद फिर सतयुग आना है। कलियुग के अन्त, सतयुग के आदि को कल्प का संगम कहा जाता है। यह है कल्याणकारी युग क्योंकि पतित से पावन बनना होता है। कलियुग में हैं पतित मनुष्य, सतयुग में हैं पावन देवतायें। बाप समझाते हैं कि यह आसुरी रावण सम्प्रदाय है। हरेक के अन्दर 5 विकारों की प्रवेशता है। उसको कहेंगे रावण ओमनी प्रेजेन्ट, गॉड ओमनी प्रेजेन्ट नहीं। 5 विकार प्रवेश हैं, इसलिए इनको पतित दुनिया कहा जाता है। सतयुग-त्रेता को पावन दुनिया शिवालय कहा जाता है। कलियुग है वेश्यालय। तो शिव परमपिता परमात्मा आकर नव युग की स्थापना करते हैं। बाप समझाते हैं अब जागो, नव युग अथवा सुखधाम का समय अब आया है। लक्ष्मी-नारायण का राज्य आ रहा है। यह है ही राजयोग। यह कोई कॉमन सतसंग नहीं है। एक होता है सत संग, दूसरा होता है झूठा संग, कुसंग। सत का संग तारे, कुसंग बोरे……. सत तो एक ही बाप है। उनको कहते हैं पतित-पावन आओ। वही आकर पावन बनाते हैं – आधाकल्प के लिए। फिर माया रावण आकर आधाकल्प पतित बनाती है। ऐसे नहीं, बाप ही पतित बनाते हैं। अभी है ही रावण राज्य। जब तक सत बाप न आये तब तक सतसंग नहीं। सब हैं झूठ संग अथवा कुसंग। तुम हो सीतायें, तुम भक्ति करती हो। समझती हो भक्ति का फल भगवान् आकर देंगे। तो जरूर जब भक्ति का समय समाप्त होना होगा तब तो आयेंगे ना। आधाकल्प है ज्ञान की प्रालब्ध और आधाकल्प है भक्ति की प्रालब्ध। अभी तुम पुरुषार्थ कर रहे हो भगवान् की श्रीमत पर। भगवान् एक होता है, वह है निराकार परमपिता परमात्मा, आत्माओं का बाप। वह आते ही हैं संगम पर। द्वापर-कलियुग को भक्ति काण्ड कहा जाता है। सतयुग-त्रेता को ज्ञान काण्ड कहा जाता है। ज्ञान है ही ज्ञान सागर परमपिता परमात्मा के पास। शास्त्रों का ज्ञान कोई ज्ञान नहीं। अगर उनमें ज्ञान होता तो सद्गति होती। भारत जो हीरे जैसा था अब है नहीं। फिर बाप बनाते हैं। तुम अब हीरे जैसा बन रहे हो। तुम्हारा जीवन पलट रहा है। आत्मा दैवीगुण धारण कर रही है। यूँ तो मनुष्य बैरिस्टर, इन्जीनियर, सर्जन आदि बनते हैं। बाकी मनुष्य को देवता बनाना यह परमपिता परमात्मा, ज्ञान सागर का कर्तव्य है। उनको ही ट्रुथ कहा जाता है। वही सच बतलाते हैं अर्थात् सचखण्ड की स्थापना करते हैं। बाकी सब हैं झूठ बोलने वाले, झूठ खण्ड की स्थापना करते हैं। रावण की मत पर चलते हैं। तुम श्रीमत से श्रेष्ठ बनते हो। नये युग में भारत नया था। वर्ल्ड आलमाइटी अथॉरिटी कहा जाता था। लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। उन्हों को किसने यह राज्य भाग्य दिया? जरूर जो स्वर्ग की स्थापना करने वाला होगा। अभी वह वर्सा गँवाया है – 84 जन्म लेकर। अब फिर चक्र पूरा होता है। सबको वापिस जाना है। लिबरेटर एक ही बाप है। वही लिबरेट कर सबको ले जाते हैं इसलिए उनको कालों का काल भी कहा जाता है। बाप कहते हैं अब तुम्हारे 84 जन्म पूरे हुए। अब वापिस चलना है। यह सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है – सो बाप बैठ समझाते हैं अर्थात् त्रिकालदर्शी बनाते हैं। तीनों लोकों, तीनों कालों की नॉलेज देते हैं। वही पतित-पावन, ज्ञान सागर, बीजरूप है। उनसे ही सचखण्ड का तुमको वर्सा मिलता है। यहाँ तुम आये हो परमपिता परमात्मा से वर्सा लेने के लिए, जो स्वर्ग की स्थापना करने वाला है। तुम जानते हो हम ही फिर स्वर्ग के मालिक बनेंगे।

सतयुग के लक्ष्मी-नारायण आदि को कहा जाता है डीटी रिलीजन, वह है श्रेष्ठ धर्म। उन्हों का धर्म भी श्रेष्ठ है तो कर्म भी श्रेष्ठ है। वहाँ भ्रष्टाचारी कोई नहीं रहते। द्वापर-कलियुग में फिर एक भी श्रेष्ठाचारी नहीं रहते। बाप को भूलने के कारण ही बुरी गति होती है। फिर बाप आकर पतित से पावन बनाते हैं। धर्म स्थापक कोई पतित से पावन बनाने नहीं आते। पतित-पावन तो एक ही बाप है। वही सच्चा गुरू है। बाकी वह तो आकर अपना धर्म स्थापन करते हैं। ऊपर से पावन आत्मायें आती हैं फिर पतित बनती हैं। इस समय सब पतित हैं। सबको पावन बनाना बाप का ही काम है। वही पतित-पावन है। गुरूनानक ने भी उस सतगुरू की महिमा की है। इस पुरानी दुनिया के विनाश लिए ही यह महाभारत लड़ाई है। बाकी ऐसे नहीं, तुमको लड़ाई के मैदान में ज्ञान देते हैं। ज्ञान के लिए तो एकान्त चाहिए। 7 रोज भट्ठी में रहना पड़े। बाकी तो है भक्ति की सामग्री। भक्तों में भी कोई बड़े तीखे-तीखे होते हैं। रूद्र माला भी है तो भक्त माला भी है। वह है भक्तों की माला, यह है ज्ञान माला। ऊपर में शिव फिर युगल दाना फिर है उनकी वंशावली जो माला मनुष्य सिमरते हैं। राम-राम कहते रहते हैं क्योंकि दु:खी हैं, रावण सम्प्रदाय राम को याद करते हैं कि आकर अपना बनाओ। अभी तुम ईश्वरीय गोद में आये हो। वास्तव में सब आत्मायें परमपिता परमात्मा की सन्तान हैं। मनुष्य सृष्टि प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान है। प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा मनुष्य सृष्टि रची है। आत्मा तो अविनाशी है। आत्माओं का अविनाशी बाप है। अभी तुमको दो बाप हैं – एक विनाशी, दूसरा अविनाशी। ब्रह्मा भी शरीर छोड़ देते हैं। शिवबाबा को तो अपना शरीर है नहीं। वह तो जन्म-मरण रहित है। जन्म-मरण में तुम बच्चे आते हो। तुम आदि सनातन देवी-देवताओं के ही 84 जन्म हैं। हिसाब है ना। गुरूनानक को तो 500 वर्ष हुए। तो इतने में 84 जन्म कैसे लेंगे। बाकी लाखों जन्म की तो बात ही नहीं। बाप समझाते हैं अभी सबके जन्म आकर पूरे हुए हैं। फिर नयेसिर खेल सतयुग से शुरू होगा। सतयुग में तो थोड़े चाहिए। बाकी इतने सब कहाँ जायेंगे? उन्हों के लिए ही यह भंभोर को आग लगनी है। इन बाम्बस नैचरल कैलेमिटीज आदि से सब ख़त्म हो जायेंगे। बाकी आत्मायें सब चली जायेंगी मुक्तिधाम। यह कयामत का समय है, सबको वापिस जाना है। भारत को अविनाशी खण्ड कहा जाता है क्योंकि भारत ही बाप का जन्म स्थान है। शिवबाबा भारत में ही आते हैं। पतित-पावन बाप यहाँ जन्म लेते हैं तो गोया सभी धर्म वालों के लिए भारत बड़े ते बड़ा तीर्थ स्थान है। इतना भारत का महत्व है परन्तु महत्व को उड़ा दिया है। यह भी ड्रामा का खेल है जो बाप ही आकर समझाते हैं। बाप कहते हैं मैं ही ज्ञान का सागर हूँ। लक्ष्मी-नारायण को ज्ञान सागर नहीं कहा जाता। उनमें रचयिता और रचना के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान नहीं है।

वह ज्ञान जरूर तुम्हारे में है। तुम ही मनुष्य से देवता बनते हो। तुम यहाँ आते हो पतित से पावन बन पावन दुनिया का मालिक बनने। बाप आत्माओं से बैठ बात करते हैं। निराकार बाप इनके आरगन्स का लोन लेकर पढ़ाते हैं। तुम्हारी आत्मा भी इन आरगन्स से सुनती है। बाबा ने समझाया है आत्मा स्टॉर है, जो भ्रकुटी के बीच रहती है और वह बाप है सुप्रीम आत्मा। वह सुप्रीम आकर इनको आप समान सुप्रीम बनाए साथ ले जाते हैं। सब आत्माओं का गाइड है। उनको ही दु:ख हर्ता, सुख कर्ता कहा जाता है। दु:ख से तुमको लिबरेट कर ले जायेंगे। सतयुग में दु:ख होता नहीं। नवयुग की नॉलेज भी नई है ना। यह बातें मनुष्यों ने कभी सुनी नहीं हैं। भल अच्छे और बुरे मनुष्य हैं। परन्तु हैं सब पतित, तब तो गंगा पर स्नान करने, पावन बनने जाते हैं। गंगा का पतित-पावनी नाम रख दिया है। वास्तव में पतित-पावन तो बाप को ही कहा जाता है। पतित दुनिया के बाद फिर पावन दुनिया की स्थापना होती है। सतयुग को वाइसलेस वर्ल्ड कहा जाता है। और वह है साइलेन्स इनकारपोरिअल वर्ल्ड। आत्मायें यहाँ आकर पार्ट बजाती हैं। पार्ट है 84 जन्मों का। तुम आलराउन्ड पार्ट बजाते हो। यह है बना-बनाया ड्रामा। हरेक में अपना-अपना पार्ट अविनाशी है। वह कभी मिटता नहीं है। तुम 84 जन्म भोगते रहेंगे। चक्र का आदि, अन्त नहीं है। ड्रामा कब शुरू हुआ – यह प्रश्न नहीं उठता। न आदि है, न अन्त है। सतयुग आदि सत, है भी सत, होसी भी सत……। इस चक्र को समझने से तुम स्वर्ग के चक्रवर्ती महाराजा महारानी बनते हो। उसको वर्ल्ड आलमाइटी अथॉरिटी राज्य कहा जाता है, जो वर्ल्ड आलमाइटी बाप से मिलता है। तुम बेहद के बाप से 21 पीढ़ी के लिए सदा सुख का वर्सा पाते हो। बाप को कहा जाता है हेविनली गॉड फादर। हेविन का वर्सा देने वाला बाप कहते हैं मैं कल्प के संगमयुग पर आकर स्वर्ग का वर्सा देता हूँ। जो पुरुषार्थ करेंगे वह सूर्यवंशी राजाई में आयेंगे। यह कोई कॉमन सतसंग नहीं। यह है गाडली युनिवर्सिटी। भगवानुवाच है ना। भगवान् पढ़ाकर मनुष्य को देवता बनाते हैं। ऐसा कोई सतसंग नहीं होगा जिसमें कहें कि हम मनुष्य से देवता बनायेंगे।

अभी तुम बच्चे नई दुनिया में देवी-देवता पद पाने के लिए पुरुषार्थ कर रहे हो। समझाना चाहिए दो बाप होते हैं – एक बेहद का बाप, एक हद का। हम बेहद के बाप से वर्सा ले रहे हैं। तुमको भी राय देते हैं वर्सा लो। श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ परमपिता परमात्मा की मत पर चलने से तुम स्वर्ग का मालिक बनेंगे। सच्चा है ही एक बाप। वह आकर पढ़ाते हैं। इनके आरगन्स द्वारा कहते हैं ब्रह्मा तन से ब्रह्मा मुख वंशावली को वर्सा देता हूँ। ब्रह्मा द्वारा तुमको दादे का वर्सा मिलता है। दादे के वर्से पर सभी आत्माओं का हक है। लौकिक सम्बन्ध में सिर्फ मेल को वर्सा मिलता है। तुम तो आत्मायें हो। सब ब्रदर्स ठहरे। सबको शिवबाबा से वर्सा मिलता है। तुमको दादे से वर्सा मिल रहा है।

बाप कहते हैं हम तुमको मन्दिर लायक बनाते हैं। मनुष्यों में देखो क्रोध कितना है। एक-दो का विनाश कर देते हैं। यह है वेश्यालय। शिवालय था, सो फिर अब बनना है। परमपिता परमात्मा शिव आकर शिवालय बनाते हैं। वेश्यालय से लिबरेट कर फिर गाइड बन सबको वापिस शिवालय में ले जाते हैं। सभी अपने पुराने शरीरों से मुक्त हो मेरे साथ चलेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) दैवी गुण धारण कर स्वयं की जीवन को पलटाना है। सचखण्ड में चलने के लिए सच्चे बाप से सच्चा रहना है।

2) एक सत बाप के संग में रहना है। मनुष्य से देवता बनने की पढ़ाई अच्छी तरह पढ़कर बेहद का वर्सा लेना है।

वरदान:- श्रेष्ठ कर्मधारी बन ऊंची तकदीर बनाने वाले पदमापदम भाग्यशाली भव
जिसके जितने श्रेष्ठ कर्म हैं उसकी तकदीर की लकीर उतनी लम्बी और स्पष्ट है। तकदीर बनाने का साधन है ही श्रेष्ठ कर्म। तो श्रेष्ठ कर्मधारी बनो और पदमापदम भाग्यशाली की तकदीर प्राप्त करो। लेकिन श्रेष्ठ कर्म का आधार है श्रेष्ठ स्मृति। श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ बाप की स्मृति में रहने से ही श्रेष्ठ कर्म होंगे इसलिए जितना चाहो उतना लम्बी भाग्य की लकीर खींच लो। इस एक जन्म में अनेक जन्मों की तकदीर बन सकती है।
स्लोगन:- अपने सन्तुष्टता की पर्सनैलिटी द्वारा अनेकों को सन्तुष्ट करना ही सन्तुष्टमणि बनना है।
Font Resize