10 october ki murli

TODAY MURLI 10 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 10 October 2020

10/10/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, whenever you explain to anyone or give a lecture, do so while saying, “Baba, Baba”. Praise the Father and the arrow will strike the target.
Question: Which question does Baba especially ask the children of Bharat?
Answer: You children of Bharat were wealthy; you belonged to the deity religion and were 16 celestial degrees full. You were pure; you never used the sword of lust. You were very wealthy, so, how did you become bankrupt? Do you know the reason? Children, how did you become slaves? Where did you lose your wealth and property? Just think about how you became impure from pure. When you children explain these aspects to others while saying, “Baba, Baba”, they will easily understand.

Om shanti. When saying “Om shanti”, you should definitely remember the Father. The Father first of all says: Manmanabhav! He definitely said this previously, and this is why He is saying it now. You children know the Father. Whenever you go to give a lecture to a gathering, those people won’t know the Father. Therefore, you should tell them that Shiv Baba says that He alone is the Purifier. He definitely comes here to explain in order to make you pure. Here, Baba says to you children: O children, I made you into the masters of heaven. You were the masters of the world. You belonged to the original eternal deity religion. Therefore, you too should say that Baba says this. Baba hasn’t as yet received news of anyone giving such a lecture. Shiv Baba says: You consider Me to be the Highest on High; you consider Me to be the Purifier. I enter Bharat and teach you Raj Yoga. I tell you: Constantly remember Me alone. Remember Me, the highest Father. This is because He is the Father who is the Bestower. You children definitely were the masters of the world in Bharat. There was no other religion at that time. The Father explains to us children and we then explain to you: Baba says: You people of Bharat were so wealthy. When there was the deity religion, you were 16 celestial degrees full. You were pure; you didn’t use the sword of lust. You were so wealthy. The Father then says: Do you know the reason why you became bankrupt? You were the masters of the world. Why is it that you have now become the slaves of the world? You continue to incur debt with everyone. Where did you lose all that money? Deliver a lecture in the same way that Baba delivers a lecture to you and many will be attracted. You people don’t remember Baba. This is why the arrow doesn’t strike the target. You don’t receive that power. Otherwise, if they were to hear even one such lecture of yours, there would be wonders taking place. Shiv Baba says: God is only one. He is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness, the One who establishes the new world. Bharat used to be heaven. There were palaces studded with jewels and diamonds. There was just one kingdom. Everyone was like milk and sugar. Just as the praise of the Father is limitless, so the praise of Bharat is also limitless. People will be happy to hear the praise of Bharat. The Father asks you children: Where did you lose all your wealth and property? You spent so much on the path of devotion. You built so many temples. Shiv Baba says: Just think about how you became impure from pure. You say, do you not, that you remember God at the time of sorrow? You don’t remember Him when you are happy, but who makes you unhappy? Continue to mention Baba’s name again and again. Continue to give Baba’s message. Baba says: I established heaven, Shivalaya. There used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan in heaven; you have even forgotten this. You don’t even know that it is Radhe and Krishna who become Lakshmi and Narayan after their wedding day. You defame Krishna who was the master of the world; you even defame Me! I am the Bestower of Salvation for you and yet you say that I am in the cats and dogs and in every particle! Baba says: You have become so impure! The Father says: I am the Bestower of Salvation for All and the Purifier. You then say that the Ganges is the Purifier. Because you don’t have yoga with Me, you have become even more impure. Remember Me and your sins will be absolved. Explain using Baba’s name again and again and you will be able to remember Shiv Baba. Tell them: We are praising the Father. The Father Himself says: I enter an ordinary, impure body at the end of his many births. The many births are of this one. This one now belongs to Me and so I explain through this chariot. This one doesn’t know his own births. He is Bhagirath (the Lucky Chariot) and I enter him in his stage of retirement. Shiv Baba explains in this way. Baba has never heard of anyone giving any such lectures. No one even mentions Baba’s name. They don’t remember Baba at all throughout the whole day. They are busy gossiping and they write to Baba saying that they gave such a lecture and explained in a particular way. Baba understands that you are still small ants. You haven’t even become big ants and yet there is so much ego! Some don’t understand that it is Shiv Baba who is explaining through Brahma. You forget Shiv Baba. People very quickly get upset about Brahma. The Father says: Remember Me alone. Only be concerned with Me. You remember Me, do you not? However, even you don’t know who the Father is or when He comes. Gurus say that the cycle is hundreds of thousands of years whereas the Father says that the cycle is only 5000 years. The old world will become the new world. The new world will become old again. Where is New Delhi now? There will be New Delhi when it is the land of angels. There was New Delhi in the new world by the banks of the River Jamuna. There was the palace of Lakshmi and Narayan there. It was the land of angels. It is now to become a graveyard; everyone is to be buried. This is why the Father says: Remember Me, the highest-on-high Father, and you will become pure. Always explain while saying “Baba, Baba” in this way. It is because you don’t mention Baba’s name that no one listens to you. Because you don’t remember Baba, you are unable to receive that power; you become body conscious. Those who are in bondage and experience beatings remember Baba more than you do. They call out so much. The Father says: All of you are Draupadis. You have now been saved from being stripped. There are even some women who were given names such as Putna, etc. in the previous cycle. You have forgotten that. The Father says: When Bharat was the Temple of Shiva, it was called heaven. Those who have property, aeroplanes, etc. here think that they are in heaven. They are so foolish. Whenever you say anything, start by saying “Baba says…”. Hatha yogis cannot grant you liberation. Since the Bestower of Salvation for All is just the One, why do you adopt gurus? Do you want to become sannyasis, or do you want to learn hatha yoga and merge into the brahm element? No one can become merged. Everyone has to play his part. All actors are imperishable. This drama is eternal and imperishable. How can anyone receive eternal liberation? The Father says: I come to liberate even these sages so, how can the Ganges be the Purifier? You call Me the Purifier, do you not? By breaking your yoga away from Me, this is what your condition has become. Now have yoga with Me and your sins will be absolved. Pure souls reside in the land of liberation. The whole world is now impure. You don’t know the pure world. All of you are worshippers; not a single one is worthy of worship. Mention Baba’s name and you will be able to wake everyone up. You defame the Father who is making you into the masters of the world. Shri Krishna is a small child full of all virtues. How could he do this business? How could Krishna be the Father of everyone? God is only one. Unless you follow My shrimat, how would your rust be removed? You have been worshipping everyone, and this is what your condition has become. This is why I have come again. You have become corrupt in your religion and your actions. Tell me: Who established the Hindu religion and when was it established? Lecture and issue a challenge in this way. You repeatedly fail to remember the Father. Sometimes, some children write that it was as though Baba entered them and gave their lecture. Baba gives a lot of help. It is because you don’t stay on the pilgrimage of remembrance that the service you do is at a crawling speed. Only when you mention Baba’s name can the arrow penetrate someone. Baba says: Children, it is only you who have been around the cycle of 84 births. Therefore, I have come to explain to only you. I only enter Bharat. Those who become worthy of worship then become worshippers. I neither become worthy of worship nor do I become a worshipper. Keep saying, “Baba says, Baba says.” Keep repeating this like a chant. When Baba hears that you lecture in this way, He will understand that you have become big ants from small ants. The Father says: I am teaching you. You must simply, constantly remember Me alone. I simply tell you through this chariot to remember Me alone. You mustn’t remember the chariot. When you say “Baba says this, Baba explains this”, you will see how impressed they become. The Father says: Break your intellect’s yoga away from your body and all your bodily relations. Once you have renounced your body, just the soul remains. Consider yourself to be a soul and remember Me, the Father. Some say “I am brahm” and some say “I am a master of Maya.” The Father says: You don’t even understand what Maya is and what wealth is. You even call wealth “Maya”. You can explain in this way. Many very good children don’t even read the murli; they don’t remember the Father. So, because they do not have the power of remembrance, the arrow doesn’t strike the target. It is by having remembrance that you receive power, and it is through this power of yoga that you become the masters of the world. If you children continually mention Baba’s name, no one can say anything. Is the God of everyone the one Father or is everyone God? They say that they are followers of a particular sannyasi. Ask them: They are sannyasis and you are householders. So, how can you be their followers? It is said: “Maya is false. Bodies are false. The whole world is false.” Only the one Father is the Truth. We cannot become true until He comes. The Bestower of Liberation and Liberation-in-Life is only the One. No one else can grant liberation and made us belong to Him. Baba says: This too is fixed in the drama. Now open your eyes and be careful. By saying “Baba says this”, you will not be blamed. No one will say anything negative. Do not just say “Shiv” but say “Trimurti Shiv Baba”. Who created the Trimurti? Who carries out establishment through Brahma? Is Brahma the Creator? Only when you speak with such intoxication will you be able to achieve anything. Otherwise, it is just like lecturing in body consciousness. The Father explains: This is the kalpa tree of innumerable religions. First of all, there is the deity religion. Where has that deity religion gone to? They speak of hundreds of thousands of years, but this is a matter of only 5000 years. They also continue to build their temples. They have spoken of a war between the Pandavas and the Kauravas. What happened after the Pandavas melted away on the mountain? How could I commit violence? I make you into non-violent Vaishnavs. It is those who never use the sword of lust and who belong to the dynasty of Vishnu who are Vaishnavs. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to be successful in service, renounce arrogance and continue to mention Baba’s name in all contexts. Stay in remembrance and do service. Don’t waste your time gossiping.
  2. Become a true Vaishnav. Don’t commit any violence. Break your intellect’s yoga away from your body and all bodily relations.
Blessing: May you be an image of support for the world and remain constantly busy in the task of world benefit.
World benefactor children cannot remain free even in their dreams. Those who are busy doing service day and night only see new things in their dreams; they see plans and methods of doing service. Because they are busy doing service, they are protected from any waste in their own efforts or anyone else’s waste. The unlimited souls of the world are always emerged in front of them. They cannot have the slightest carelessness. Such serviceable children receive the blessing of being images of support.
Slogan: Each second of the confluence age is equal to many years, and so do not waste time out of carelessness.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 10 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 October 2020

Murli Pdf for Print : – 

10-10-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम जब किसी को भी समझाते हो या भाषण करते हो तो बाबा-बाबा कहकर समझाओ, बाप की महिमा करो तब तीर लगेगा”
प्रश्नः- बाबा भारतवासी बच्चों से विशेष कौन से प्रश्न पूछते हैं?
उत्तर:- तुम भारतवासी बच्चे जो इतने साहूकार थे, सर्वगुण सम्पन्न 16 कला सम्पूर्ण देवता धर्म के थे, तुम पवित्र थे, काम कटारी नहीं चलाते थे, बहुत धनवान थे। फिर तुमने इतना देवाला कैसे निकाला है – कारण का पता है? बच्चे, तुम गुलाम कैसे बन गये? इतना सब धन दौलत कहाँ गँवा दिया? ख्याल करो तुम पावन से पतित कैसे बन गये? तुम बच्चे भी ऐसी-ऐसी बातें बाबा-बाबा कह दूसरों को भी समझाओ – तो सहज समझ जायेंगे।

ओम् शान्ति। ओम् शान्ति कहने से भी बाप जरूर याद आना चाहिए। बाप का पहला-पहला कहना है मनमनाभव। जरूर आगे भी कहा है तब तो अभी भी कहते हैं ना। तुम बच्चे बाप को जानते हो, जब कहाँ सभा में भाषण करने जाते हो, वो लोग तो बाप को जानते नहीं। तो उनको भी ऐसा कहना चाहिए कि शिवबाबा कहते हैं, वही पतित-पावन है। जरूर पावन बनाने के लिए यहाँ आकर समझाते हैं। जैसे बाबा यहाँ तुमको कहते हैं – हे बच्चों, तुमको स्वर्ग का मालिक बनाया था, तुम आदि सनातन देवी-देवता धर्म वाले विश्व के मालिक थे, वैसे तुमको भी बोलना चाहिए कि बाबा यह कहते हैं। ऐसे कोई के भाषण का समाचार आया नहीं है। शिवबाबा कहते हैं मुझे ऊंच ते ऊंच मानते हो, पतित-पावन भी मानते हो, मैं आता भी हूँ भारत में और राजयोग सिखलाने आता हूँ, कहता हूँ मामेकम् याद करो, मुझ ऊंच बाप को याद करो क्योंकि वह बाप देने वाला दाता है। बरोबर भारत में तुम विश्व के मालिक थे ना। दूसरा कोई धर्म नहीं था। बाप हम बच्चों को समझाते हैं हम फिर आपको समझाते हैं। बाबा कहते हैं तुम भारतवासी कितने साहूकार थे। सर्वगुण सम्पन्न 16 कला सम्पूर्ण देवता धर्म था, तुम पवित्र थे, काम कटारी नहीं चलाते थे। बहुत धनवान थे। फिर बाप कहते हैं तुमने इतना देवाला कैसे निकाला है – कारण का पता है? तुम विश्व के मालिक थे। अभी तुम विश्व के गुलाम क्यों बने हो? सभी से कर्जा लेते रहते हो। इतने सब पैसे कहाँ गये? जैसे बाबा भाषण कर रहे हैं वैसे तुम भी भाषण करो तो बहुतों को आकर्षण हो। तुम लोग बाबा को याद नहीं करते हो तो किसको तीर लगता नहीं। वह ताकत नहीं मिलती। नहीं तो तुम्हारा एक ही भाषण ऐसा सुनें तो कमाल हो जाए। शिवबाबा समझाते हैं भगवान तो एक ही है। जो दु:ख हर्ता सुख कर्ता है, नई दुनिया स्थापन करने वाला है। इसी भारत पर स्वर्ग था। हीरे-जवाहरातों के महल थे, एक ही राज्य था। सब क्षीरखण्ड थे। जैसे बाप की महिमा अपरमअपार है, वैसे भारत की महिमा भी अपरमअपार है। भारत की महिमा सुनकर खुश होंगे। बाप बच्चों से पूछते हैं – इतना धन दौलत कहाँ गँवा दिया? भक्ति मार्ग में तुम कितना खर्चा करते आये हो। कितने मन्दिर बनाते हो। बाबा कहते हैं ख्याल करो – तुम पावन से पतित कैसे बने हो? कहते भी हो ना – बाबा दु:ख में आपका सिमरण करते हैं, सुख में नहीं करते। परन्तु दु:खी तुमको बनाता कौन है? घड़ी-घड़ी बाबा का नाम लेते रहो। तुम बाबा का सन्देश देते हो। बाबा कहते हैं – हमने तो स्वर्ग, शिवालय स्थापन किया, स्वर्ग में इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था ना। तुम यह भी भूल गये हो। तुमको यह भी पता नहीं है कि राधे-कृष्ण ही स्वयंवर के बाद लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। कृष्ण जो विश्व का मालिक था, उनको कलंक बैठ लगाते हो, मेरे को भी कलंक लगाते हो। मैं तुम्हारा सद्गति दाता, तुम मुझे कुत्ते बिल्ली, कण-कण में कह देते हो। बाबा कहते हैं तुम कितने पतित बन गये हो। बाप कहते हैं सर्व का सद्गति दाता, पतित-पावन मैं हूँ। तुम फिर पतित-पावनी गंगा कह देते हो। मेरे से योग न लगाने से तुम और ही पतित बन पड़ते हो। मुझे याद करो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। घड़ी-घड़ी बाबा का नाम लेकर समझाओ तो शिवबाबा याद रहेगा। बोलो, हम बाप की महिमा करते हैं, बाप खुद कहते हैं मैं कैसे साधारण पतित तन में बहुत जन्मों के अन्त में आता हूँ। इनके ही बहुत जन्म हैं। यह अब मेरा बना है तो इस रथ द्वारा तुमको समझाता हूँ। यह अपने जन्मों को नहीं जानते हैं। भागीरथ यह है, इनके भी वानप्रस्थ अवस्था में मैं आता हूँ। शिवबाबा ऐसा समझाते हैं। ऐसा भाषण किसका सुना नहीं है। बाबा का तो नाम ही नहीं लेते हैं। सारा दिन बाबा को तो बिल्कुल याद ही नहीं करते हैं। झरमुई झगमुई में लगे रहते हैं और लिखते हैं कि हमने ऐसा भाषण किया, हमने यह समझाया। बाबा समझते हैं कि अभी तो तुम चीटिंया हो। मकोड़े भी नहीं बने हो और अहंकार कितना रहता है। समझते नहीं हैं कि शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा कहते हैं। शिवबाबा को तुम भूल जाते हो। ब्रह्मा पर झट बिगड़ते हैं। बाप कहते हैं – तुम मुझे ही याद करो, तुम्हारा काम है मेरे से। मुझे याद करते हो ना। परन्तु तुमको भी पता नहीं है कि बाप क्या चीज़ है, कब आते हैं। गुरू लोग तुमको कहते हैं कि कल्प लाखों वर्ष का है और बाप कहते हैं कि कल्प है ही 5 हज़ार वर्ष का। पुरानी दुनिया सो फिर नई होगी। नई सो फिर पुरानी होती है। अब नई देहली है कहाँ? देहली तो जब परिस्तान होगी तब नई देहली कहेंगे। नई दुनिया में नई देहली थी, जमुना घाट पर। उन पर लक्ष्मी-नारायण के महल थे। परिस्तान था। अभी तो कब्रिस्तान होना है, सब दफन हो जाने हैं इसलिए बाप कहते हैं – मुझ ऊंच ते ऊंच बाप को याद करो तो पावन बनेंगे। हमेशा ऐसे बाबा-बाबा कहकर समझाओ। बाबा नाम नहीं लेते हो इसलिए तुम्हारा कोई सुनते नहीं हैं। बाबा की याद न होने से तुम्हारे में जौहर नहीं भरता। देह-अभिमान में तुम आ जाते हो। बांधेलियां जो मार खाती हैं वह तुमसे जास्ती याद में रहती हैं, कितना पुकारती हैं। बाप कहते हैं तुम सब द्रोपदियां हो ना। अब तुमको नंगन होने से बचाते हैं। मातायें भी ऐसी कोई होती हैं जिनको कल्प पहले भी पूतना आदि नाम दिये थे। तुम भूल गये हो।

बाप कहते हैं भारत जब शिवालय था तो उसे स्वर्ग कहा जाता था। यहाँ फिर जिनके पास मकान, विमान आदि हैं वह समझते हैं हम स्वर्ग में हैं। कितने मूढ़मती हैं। हर बात में बोलो बाबा कहते हैं। यह हठयोगी तुमको मुक्ति थोड़ेही दे सकते हैं। जबकि सर्व का सद्गति दाता एक है फिर गुरू किसलिए करते हो? क्या तुमको संन्यासी बनना है या हठयोग सीखकर ब्रह्म में लीन होना है? लीन तो कोई हो नहीं सकता। पार्ट सबको बजाना है। सब एक्टर्स अविनाशी हैं। यह अनादि अविनाशी ड्रामा है, मोक्ष किसको मिल कैसे सकता है। बाप कहते हैं मैं इन साधुओं का भी उद्धार करने आता हूँ। फिर पतित-पावनी गंगा कैसे हो सकती। पतित-पावन तुम मुझे कहते हो ना। तुम्हारा मेरे से योग टूटने से यह हाल हुआ है। अब फिर मेरे से योग लगाओ तो विकर्म विनाश होंगे। मुक्तिधाम में पवित्र आत्मायें रहती हैं। अभी तो सारी दुनिया पतित है। पावन दुनिया का तुमको मालूम ही नहीं है। तुम सब पुजारी हो, पूज्य एक भी नहीं। तुम बाबा का नाम लेकर सबको सुजाग कर सकते हो। बाप जो विश्व का मालिक बनाते हैं – उनकी तुम ग्लानि बैठ करते हो। श्रीकृष्ण छोटा बच्चा, सर्वगुण सम्पन्न वह ऐसा धंधा कैसे बैठ करेगा। और कृष्ण सबका फादर हो कैसे सकता। भगवान तो एक होता है ना। जब तक मेरी श्रीमत पर नहीं चलेंगे तो कट कैसे उतरेगी। तुम सबकी पूजा करते रहते हो तो क्या हालत हो गई, इसलिये फिर मुझे आना पड़ता है। तुम कितने धर्म कर्म भ्रष्ट हो गये हो। बताओ हिन्दू धर्म किसने कब स्थापन किया? ऐसे अच्छी ललकार से भाषण करो। तुमको घड़ी-घड़ी बाप याद ही नहीं आता है। कभी-कभी कोई लिखते हैं कि हमारे में तो जैसे बाबा ने आकर भाषण किया। बाबा बहुत मदद करते रहते हैं। तुम याद की यात्रा में नहीं रहते हो इसलिए चींटी मार्ग की सर्विस करते हो। बाबा का नाम लेंगे तब ही किसको तीर लगेगा। बाबा समझाते हैं बच्चे तुमने ही आलराउन्ड 84 का चक्र लगाया है तो तुमको ही आकर समझाना पड़े। मैं भारत में ही आता हूँ। जो पूज्य थे वह पुजारी बनते हैं। मैं तो पूज्य पुजारी नहीं बनता हूँ।

“बाबा कहते हैं, बाबा कहते हैं”, यह तो धुन लगा देनी चाहिए। तुम जब ऐसे-ऐसे भाषण करो, जब ऐसा हम सुनें तब समझें कि अब तुम चींटी से मकोड़े बने हो। बाप कहते हैं मैं तुमको पढ़ाता हूँ, तुम सिर्फ मामेकम् याद करो। इस रथ द्वारा तुमको सिर्फ कहता हूँ कि मुझे याद करो। रथ को थोड़ेही याद करना है। बाबा ऐसे कहते हैं, बाबा यह समझाते हैं, ऐसे-ऐसे तुम बोलो फिर देखो तुम्हारा कितना प्रभाव निकलता है। बाप कहते हैं देह सहित सभी सम्बन्धों से बुद्धि का योग तोड़ो। अपनी देह भी छोड़ी तो बाकी रही आत्मा। अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो। कई कहते हैं “अहम् ब्रह्मस्मि” माया के हम मालिक हैं। बाप कहते हैं तुम यह भी नहीं जानते कि माया किसको कहा जाता और सम्पत्ति किसको कहा जाता है! तुम धन को माया कह देते हो। ऐसे-ऐसे तुम समझा सकते हो। बहुत अच्छे-अच्छे बच्चे मुरली भी नहीं पढ़ते हैं। बाप को याद नहीं करते तो तीर नहीं लगता क्योंकि याद का बल नहीं मिलता है। बल मिलता है याद से। जिस योगबल से तुम विश्व के मालिक बनते हो। बच्चे हर बात में बाबा का नाम लेते रहो तो कभी कोई कुछ कह न सके। सर्व का भगवान बाप तो एक है या सभी भगवान हैं? कहते हैं हम फलाने संन्यासी के फालोअर्स हैं। अब वह संन्यासी और तुम गृहस्थी तो तुम फालोअर्स कैसे ठहरे? गाते भी हैं झूठी माया, झूठी काया, झूठा सब संसार। सच्चा तो एक ही बाप है। वह जब तक न आये तो हम सच्चे नहीं बन सकते हैं। मुक्ति-जीवनमुक्ति दाता एक ही है। बाकी कोई भी मुक्ति थोड़ेही देते हैं जो हम उनके बनें। बाबा कहते हैं यह भी ड्रामा में था। अब सावधान हो आंखें खोलो। बाबा ऐसे कहते हैं, यह कहने से तुम छूट जायेंगे। तुम्हारे ऊपर कोई बकवाद नहीं करेंगे। त्रिमूर्ति शिवबाबा कहना है, सिर्फ शिव नहीं। त्रिमूर्ति को किसने रचा? ब्रह्मा द्वारा स्थापना कौन कराते हैं? क्या ब्रह्मा क्रियेटर हैं? ऐसे-ऐसे नशे से बोलो तब काम कर सकते हो। नहीं तो देह-अभिमान में बैठ भाषण करते हैं।

बाप समझाते हैं यह अनेक धर्मों का कल्प वृक्ष है। पहले-पहले है देवी-देवता धर्म। अब वह देवता धर्म कहाँ गया? लाखों वर्ष कह देते हैं यह तो 5 हज़ार वर्ष की बात है। तुम मन्दिर भी उन्हों के बनाते रहते हो। दिखाते हैं पाण्डवों और कौरवों की लड़ाई लगी। पाण्डव पहाड़ों पर गल मरे फिर क्या हुआ? मैं कैसे हिंसा करुँगा। मैं तो तुमको अहिंसक वैष्णव बनाता हूँ। काम कटारी न चलाना, उसको ही वैष्णव कहते हैं। वह हैं विष्णु की वंशावली। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सर्विस में सफलता प्राप्त करने के लिए अहंकार को छोड़ हर बात में बाबा का नाम लेना है। याद में रहकर सेवा करनी है। झरमुई-झगमुई में अपना टाइम वेस्ट नहीं करना है।

2) सच्चा-सच्चा वैष्णव बनना है। कोई भी हिंसा नहीं करनी है। देह सहित सभी सम्बन्धों से बुद्धियोग तोड़ देना है।

वरदान:- विश्व कल्याण के कार्य में सदा बिजी रहने वाले विश्व के आधारमूर्त भव
विश्व कल्याणकारी बच्चे स्वप्न में भी फ्री नहीं रह सकते। जो दिन रात सेवा में बिजी रहते हैं उन्हें स्वप्न में भी कई नई-नई बातें, सेवा के प्लैन व तरीके दिखाई देते हैं। वे सेवा में बिजी होने के कारण अपने पुरूषार्थ के व्यर्थ से और औरों के भी व्यर्थ से बचे रहते हैं। उनके सामने बेहद विश्व की आत्मायें सदा इमर्ज रहती हैं। उन्हें जरा भी अलबेलापन आ नहीं सकता। ऐसे सेवाधारी बच्चों को आधारमूर्त बनने का वरदान प्राप्त हो जाता है।
स्लोगन:- संगमयुग का एक-एक सेकण्ड वर्षो के समान है इसलिए अलबेलेपन में समय नहीं गंवाओ।

TODAY MURLI 10 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 10 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 9 October 2019:- Click Here

10/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, your pilgrimage is of the intellect. It is this that is called the spiritual pilgrimage. You consider yourselves to be souls, not bodies. To consider yourself to be a body means to dangle upside down.
Question: What type of respect do people who have the pomp of Maya receive?
Answer: Devilish respect. People give someone a little respect today, but they will disrespect that person tomorrow and insult him. Maya has been disrespectful to everyone and insulted them and made them impure. The Father has come to make you into those with divine respect.

Om shanti. The spiritual Father asks you spirits: Where are you sitting? You would say: We are sitting in the spiritual university of the world. Those people don’t understand the word “spiritual”. There are many world universities, but this is the only one spiritual university in the world. The one teaching you is just the One. What is He teaching you? Spiritual knowledge. So, this is a spiritual university, spiritual pathshala (place of study). Who is teaching you spiritual knowledge? Only you children know that at this time. Only the spiritual Father teaches you spiritual knowledge, and this is why He is also called the Teacher. The spiritual Father is teaching you. OK, what will happen then? You children know that you are establishing your original eternal deity religion with this spiritual knowledge. There is establishment of one religion and then destruction of all other religions. You now know what the connection is between this spiritual knowledge and all other religions. The one religion is established through this spiritual knowledge. Lakshmi and Narayan were the masters of the world. That would be called the spiritual world, the spiritual world. You learn Raja Yoga through this spiritual knowledge. The kingdom is being established. Achcha, what connection is there with the other religions? All the other religions will be destroyed, because when you become pure you need a new world. All the innumerable religions will end and just the one religion will remain. That is called the kingdom of peace in the world. There is now the impure kingdom of peacelessness, and there will then be the pure kingdom of peace. Now that there are innumerable religions, there is so much peacelessness! All are impure; it is the kingdom of Ravan. You children know that the five vices now definitely have to be renounced; you will not take them with you. A soul carries good and bad sanskars with himself. The Father is now telling you about becoming pure. There is no sorrow in that pure world. Who is the one teaching you this spiritual knowledge? The spiritual Father, the Father of all souls. What would the spiritual Father teach you? Spiritual knowledge. There is no need for any books etc. in this. You simply have to consider yourself to be a soul and remember the Father and become pure. By remembering the Father, your final thoughts will lead you to your destination. This is the pilgrimage of remembrance. The word “pilgrimage” is good. Those are physical pilgrimages whereas this is the spiritual pilgrimage. In those pilgrimages, you have to go on foot and use your hands and feet. Here, you don’t have to do anything. You just have to have remembrance. You may tour around anywhere, sit, walk around, but just consider yourself to be a soul and remember the Father. It is not anything difficultyou just have to have remembrance. This is the reality. Previously, you were moving along in the wrong way. Instead of considering yourselves to be souls, you considered yourselves to be bodies, and so that is called dangling upside down. To consider yourself to be a soul is to be the right way up. When Allah comes, He comes and makes you pure. The world of Allah is pure and the world of Ravan is impure. Everyone has been turned upside down because of body consciousness. You now have to become soul conscious just the once. So, you are the children of Allah. You would not say, “Allah hu” (God is – God exists). You always signal upwards with your finger and this proves that He is Allah. So, there must surely be something else here. I am a child of that Allah, the Father. We are brothers. Saying “Allah hu,” means that all of us are the Father, it becomes reversed. But no; there is just the one Father. You have to remember Him. Allah is everpure. Allah sits here Himself and teaches you. People become so confused about little things. They celebrate Shiva’s birthday. Who gave Krishna such a status? Shiv Baba. Shri Krishna is the first prince of heaven. The unlimited Father gives this one the fortune of the kingdom. Shri Krishna is the number one prince of the new world of heaven that the Father establishes. The Father sits here and shows you children the way to become pure. You children know that heaven, which is called Paradise, the land of Vishnu, has now become the past. It will then become the future. The cycle continues to turn. You children now receive this knowledge. You have to imbibe it and then inspire others to imbibe it. Each one of you has to become a teacher. Do not think that by becoming a teacher you will become Lakshmi or Narayan; no. By becoming a teacher, you will create subjects. The more you benefit others, the higher the status you will claim. You will have that awareness. The Father says: When you travel by train, you can explain the badge to people: The Father is the Purifier and the Liberator. He is the One who makes you pure. Many have to be remembered (on the path of devotion). They even say that animals such as elephants, horses, fish, alligators etc. are incarnations. They continue to worship them. They think that God is omnipresent, that is He is in everyone, that they should feed everyone. Achcha, if they say that God is in every particle, then how would they feed Him? It is as though they have completely lost all understanding. Lakshmi and Narayan and the deities etc. will not do this work. They (devotees) give food to ants, to so-and-so, etc. So, the Father explains: You are religio-political. You know that you are establishing a religion. There is a military to establish a kingdom, but you are incognito. Yours is a spiritual university. All the human beings of the world will leave those religions and go to their home. All souls will go back. That is the home where souls reside. You are now studying at the confluence age and you will then go and rule in the golden age. There won’t be any other religions. It is written in the song: Baba, no one else can give us what You give us. All the sky and earth become yours; you become the masters of the whole world. You understand this now. You will have forgotten all of these things in the new world. This is called spiritual knowledge. It is in the intellects of you children that you claim the kingdom every 5000 years and that you then lose it. This cycle of 84 births continues to turn, so you have to study, because only then will you be able to depart. If you don’t study you won’t be able to go to the new world. There is a limited number there. You will go there and attain a status, numberwise, according to the effort you make. Not all of you people study. If everyone were to study, they would also all claim the kingdom in their next birth. There is a limit to the number of those who study. Only those who go to the golden and silver ages will study. Many of your subjects continue to be created. Those who come later will not be able to burn their sins away. If souls are sinful souls, they will experience punishment and claim a very low status. That would be disrespectful. Those who have Maya’s respect at this time will be insulted. This is Godly respect whereas that is devilish respect. There is the difference of day and night between Godly, that is, divine respect, and devilish respect. We were those with devilish honour and are now once again becoming those with divine respect. By having devilish respect, you become complete beggars. This is the world of thorns and so that is disrespect is it not? Then, you become those who are very respectable. As are the king and queen, so the subjects. The unlimited Father is making you very highly respectable and so you also have to make that much effort. Everyone says: I want to make myself so highly respectable that I become Narayan from an ordinary man or Lakshmi from an ordinary woman. No one is given greater respect than they are. People listen to the religious story of changing from an ordinary man into Narayan. The story of immortality and the story of the third eye are the same. Only at this time do you listen to that story. You children were the masters of the world and you then continued to come down while taking 84 births. You will now take the first number birth. You claim a very high status in your first number birth. Rama makes you respectable whereas Ravan makes you disrespectful. It is only by studying this knowledge that you attain liberation and liberation-in-life. For half the cycle Ravan’s name is not mentioned. These things now enter the intellects of you children and that, too, is numberwise. You become sensible every cycle in this way, numberwise, according to your efforts. Maya makes you make mistakes. You then forget to remember the unlimited Father. God is teaching you. He has now become our Teacher. Even then, some remain absent and do not study. They have the habit of stumbling from door to door. Those who don’t pay attention to their studies are then given a job; they do laundry work etc. There is no need to study etc. for that. People in business become multimillionaires. They cannot become as wealthy through a job. They would receive a fixed wage for that. You study for the sovereignty of the world. Here, you say that you are residents of Bharat. Then, later, you would be called the masters of the world. There, there is no other religion; there is only the deity religion. The Father is making you into the masters of the world and so you have to follow His directions. Let there be no evil spirit of vice in you. Those evil spirits are very bad. The health of lustful people continues to deteriorate; they lose their strength. This vice of lust has completely finished all your strength. The consequence of that has been that your lifespan has continued to become shorter. You became those who indulged in sensual pleasures (bhogis). Those who are lustful are those who indulge in sensual pleasures and become diseased. There are no vices there. So, yogis are always healthy and their lifespan is 150 years. Death doesn’t come to anyone there. They relate a story about this. A person was asked whether he wanted happiness first or sorrow first. He was told to answer that he wants happiness first because once he goes into happiness, death will not come to him there. Death cannot push its way in there. They have made a religious story about this. The Father explains: There is no death in the land of happiness. There is no kingdom of Ravan there. Then, when you become vicious, death comes to you. They have made so many religious stories such as that death took someone away and that such and such happened. Neither can death be seen nor can a soul be seen. Those are called tall stories. There are many stories that just please the ears. The Father now explains: There is never untimely death there. Their lifespan is long and they remain pure. They are 16 celestial degrees full and then the degrees gradually decrease until there are no degrees left. “I am without virtues, I have no virtues.” There is an organization of children that call themselves “Nirgun” (without virtue). They say: We have no virtues, make us virtuous! Make us full of all virtues! The Father now says: You have to become pure. Everyone has to die. There will not be so many people in the golden age. There are now so many people. There, children are born through the power of yoga. Here, people continue to have so many children. The Father still says: Remember the Father! That Father teaches you and you remember the Teacher who teaches you. You know that Shiv Baba is teaching you. You also know what He is teaching you. So, you have to have yoga with the Father and the TeacherKnowledge is very elevated. This is now a student life for all of you. Have you ever seen such a university where children, young adults and old people all study together? It is just in the one school where the one Teacher teaches everyone and where Brahma himself also studies. It is a wonder! Shiv Baba is teaching you! This Brahma is also listening. Children and old people – anyone can study here. You are studying this knowledge. You too have now begun to teach others. Day by day, time continues to become shorter. You have now gone into the unlimited. You know how this cycle of 5000 years has passed by. At first, there was the one religion and there are now so many religions. This cannot be called a sovereignty now. This is called the rule of the people by the people. In the very beginning, religion was very powerful. You were the masters of the whole world! People have now become irreligious; they have no religion. They all have the five vices in them. The unlimited Father says: Children, now have patience because you will be in the kingdom of Ravan for just a short time longer. If you study well you will go to the land of happiness. This is the land of sorrow. Remember your land of peace and land of happiness and continue to forget this land of sorrow. The Father of souls gives you directions: O spiritual children! You spiritual children heard that through those organs. When you souls were satopradhan in the golden age, your bodies were also first class and satopradhan. You were very wealthy. Now, look what you have become by taking rebirth! There is the difference of day and night. In the day, we were in heaven, and in the night, we are in hell. This is called the day and night of Brahma and the Brahmins. You have been stumbling around in the darkness of the night for 63 births. You have been wandering around. None of you could find God. This is called the game of the maze. Therefore, the Father tells you the news of the beginning, middle and end of the whole world. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Renounce the habit of stumbling from door to door and study God’s teachings with attention. Never be absent. Definitely become a teacher like the Father. Study and then teach others too.
  2. Listen to the true story of the true Narayan and become Narayan from an ordinary human. You have to make yourself respectable. Never become influenced by evil spirits (vices) and thereby lose your respect.
Blessing: May you be a clean soul who achieves full success by finishing all the things and attitudes of the past.
The easy way to achieve success in service is to have a clean intellect, a clean attitude and perform clean actions. Before you begin any task, first of all check that you do not have any awareness of past actions in your intellect. By looking at that soul with that old attitude and with that old vision, by speaking to that soul with that, you cannot attain full success. So, finish all the things and attitudes of the past and become a clean soul and only then will you be able to achieve success.
Slogan: Those who bring about self-transformation are garlanded with the garland of victory.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 10 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 October 2019

To Read Murli 9 October 2019:- Click Here
10-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम्हारी यात्रा बुद्धि की है, इसे ही रूहानी यात्रा कहा जाता है, तुम अपने को आत्मा समझते हो, शरीर नहीं, शरीर समझना अर्थात् उल्टा लटकना”
प्रश्नः- माया के पाम्प में मनुष्यों को कौन-सी इज्जत मिलती है?
उत्तर:- आसुरी इज्जत। मनुष्य किसी को भी आज थोड़ी इज्जत देते, कल उसकी बेइज्जती करते हैं, गालियाँ देते हैं। माया ने सबकी बेइज्जती की है, पतित बना दिया है। बाप आये हैं तुम्हें दैवी इज्जत वाला बनाने।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहों से पूछते हैं – कहाँ बैठे हो? तुम कहेंगे विश्व की रूहानी युनिवर्सिटी में। रूहानी अक्षर तो वो लोग जानते नहीं। विश्व विद्यालय तो दुनिया में अनेक हैं। यह है सारे विश्व में एक ही रूहानी विद्यालय। एक ही पढ़ाने वाला है। क्या पढ़ाते हैं? रूहानी नॉलेज। तो यह है स्प्रीचुअल विद्यालय अर्थात् रूहानी पाठशाला। स्प्रीचुअल अर्थात् रूहानी नॉलेज पढ़ाने वाला कौन है? यह भी तुम बच्चे ही अभी जानते हो। रूहानी बाप ही रूहानी नॉलेज पढ़ाते हैं, इसलिए उनको टीचर भी कहते हैं, स्प्रीचुअल फादर पढ़ाते हैं। अच्छा, फिर क्या होगा? तुम बच्चे जानते हो इस रूहानी नॉलेज से हम अपना आदि सनातन देवी-देवता धर्म स्थापन करते हैं। एक धर्म की स्थापना बाकी जो इतने सब धर्म हैं, उनका विनाश हो जायेगा। इस स्प्रीचुअल नॉलेज का सब धर्मों से क्या तैलुक है – यह भी तुम अब जानते हो। एक धर्म की स्थापना इस रूहानी नॉलेज से होती है। यह लक्ष्मी-नारायण विश्व के मालिक थे ना! उनको कहेंगे रूहानी दुनिया (प्रीचु-अल वर्ल्ड) इस स्प्रीचुअल नॉलेज से तुम राजयोग सीखते हो। राजाई स्थापन होती है। अच्छा, फिर और धर्मों से क्या तैलुक है? और सभी धर्म विनाश को पायेंगे क्योंकि तुम पावन बनते हो तो तुमको नई दुनिया चाहिए। इतने सब अनेक धर्म खत्म हो जाते हैं, एक धर्म रहेगा। उसको कहा जाता है विश्व में शान्ति का राज्य। अभी है पतित अशान्ति का राज्य फिर होगा पावन शान्ति का राज्य। अभी तो अनेक धर्म हैं। कितनी अशान्ति है। सब पतित ही पतित हैं। रावण का राज्य है ना। अब बच्चे जानते हैं 5 विकारों को जरूर छोड़ना है। यह साथ में नहीं ले जाने हैं। आत्मा अच्छे वा बुरे संस्कार ले जाती है ना। अब बाप तुम बच्चों को पवित्र बनने की बात बताते हैं। उस पावन दुनिया में कोई भी दु:ख होता नहीं। यह स्प्रीचुअल नॉलेज पढ़ाने वाला कौन है? स्प्रीचुअल फादर। सभी आत्माओं का बाप। स्प्रीचुअल फादर क्या पढ़ायेंगे? स्प्रीचुअल नॉलेज, इसमें कोई भी किताब आदि की दरकार नहीं। सिर्फ अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है। पावन बनना है। बाप को याद करते-करते अन्त मती सो गति हो जायेगी। यह है याद की यात्रा। यात्रा अक्षर अच्छा है। वह हैं जिस्मानी यात्रायें, यह है रूहानी। उसमें तो पैदल जाना पड़ता है, हाथ-पांव चलाते हैं, इसमें कुछ नहीं। सिर्फ याद करना है। भल कहाँ भी घूमो फिरो, उठो बैठो, अपने को आत्मा समझ बाप को याद करो। डिफीकल्ट बात नहीं है, सिर्फ याद करना है। यह तो रीयल्टी है ना। आगे तुम उल्टे चल रहे थे। अपने को आत्मा के बदले शरीर समझना, इसको कहा जाता है उल्टा लटकना। अपने को आत्मा समझना – यह है सुल्टा। अल्लाह जब आते हैं तब आकर पावन बनाते हैं। अल्लाह की पावन दुनिया है, रावण की पतित दुनिया है। देह-अभिमान में सभी उल्टे हो गये हैं। अब एक ही बार देही-अभिमानी बनना है। तो तुम अल्लाह के बच्चे हो। अल्लाह हूँ, नहीं कहेंगे। अंगुली से हमेशा ऊपर की तरफ ईशारा करते हैं, तो सिद्ध होता है अल्लाह वह है। तो यहाँ जरूर दूसरी चीज़ है। हम उस अल्लाह बाप का बच्चा हूँ। हम भाई-भाई हैं। अल्लाह हूँ, कहने से फिर उल्टा हो जायेगा कि हम सब बाप हैं। परन्तु नहीं, बाप एक है। उनको याद करना है। अल्लाह एवर प्योर है। अल्लाह खुद बैठ पढ़ाते हैं। थोड़ी-सी बात में मनुष्य कितना मूँझते हैं। शिव जयन्ती भी मनाते हैं ना।

कृष्ण को ऐसा पद किसने दिया? शिवबाबा ने। श्रीकृष्ण है स्वर्ग का पहला राजकुमार। यह बेहद का बाप इनको राज्य-भाग्य देते हैं। बाप जो नई दुनिया स्वर्ग स्थापन करते हैं उसमें श्रीकृष्ण नम्बरवन प्रिन्स है। बाप बच्चों को पावन बनने की युक्ति बैठ बताते हैं। बच्चे जानते हैं स्वर्ग जिसको वैकुण्ठ, विष्णुपुरी कहते हैं, वह पास्ट हो गया है फिर फ्युचर होगा। चक्र फिरता रहता है ना। यह ज्ञान अभी तुम बच्चों को मिलता है। यह धारण कर और फिर कराना है। हरेक को टीचर बनना है। ऐसे भी नहीं कि टीचर बनने से लक्ष्मी-नारायण बनेंगे। नहीं। टीचर बनने से तुम प्रजा बनायेंगे, जितना बहुतों का कल्याण करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। स्मृति रहेगी। बाप कहते हैं ट्रेन में आते हो तो भी बैज पर समझाओ। बाप पतित-पावन, लिब्रेटर है। पावन बनाने वाला है। बहुतों को याद करना पड़ता है। जानवर, हाथी, घोड़े आदि, कच्छ, मच्छ को भी अवतार कह देते हैं। उनको भी पूजते रहते हैं। समझते हैं भगवान सर्वव्यापी अर्थात् सबमें हैं। सबको खिलाओ। अच्छा, कण-कण में भगवान कहते हैं फिर उनको कैसे खिलायेंगे। बिल्कुल ही समझ से जैसे बाहर हैं। लक्ष्मी-नारायण आदि देवी-देवतायें थोड़ेही यह काम करेंगे। चीटिंयों को अन्न देंगे, फलाने को देंगे। तो बाप समझाते हैं तुम हो रिलीजो पोलीटिकल। तुम जानते हो हम धर्म स्थापन कर रहे हैं। राज्य स्थापन करने के लिए मिलेट्री रहती है। परन्तु तुम हो गुप्त। तुम्हारी है स्प्रीचुअल युनिवर्सिटी। सारी दुनिया के जो भी मनुष्य मात्र हैं सब इन धर्मों से निकल, अपने घर जायेंगे। आत्मायें चली जायेंगी। वह है आत्माओं के रहने का घर। अभी तुम संग-मयुग पर पढ़ रहे हो फिर सतयुग में आकर राज्य करेंगे और कोई धर्म नहीं होगा। गीत में भी है ना – बाबा आप जो देते हो वह और कोई दे न सके। सारा आसमान, सारी ही धरनी तुम्हारी रहती है। सारे विश्व के मालिक तुम बन जाते हो। यह भी अभी तुम समझते हो, नई दुनिया में यह सभी बातें भूल जायेंगी। इसको कहा जाता है रूहानी स्प्रीचुअल नॉलेज। तुम बच्चों की बुद्धि में है कि हम हर 5 हजार वर्ष बाद राज्य लेते हैं फिर गँवाते हैं। यह 84 का चक्र फिरता ही रहता है। तो पढ़ाई पढ़नी पड़े तब ही जा सकेंगे ना! पढ़ेंगे नहीं तो नई दुनिया में जा नहीं सकेंगे। वहाँ का तो लिमिटेड नम्बर है। नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार वहाँ जाकर पद पायेंगे। इतने सब तो पढ़ेंगे नहीं। अगर सभी पढ़ें तो फिर दूसरे जन्म में राज्य भी पावें। पढ़ने वालों की लिमिट है। सतयुग-त्रेता में आने वाले ही पढ़ेंगे। तुम्हारी प्रजा बहुत बनती रहती है। देरी से आने वाले पाप तो भस्म कर न सकें। पाप आत्मायें होंगी तो फिर सजायें खाकर बहुत थोड़ा पद पा लेंगी। बेइज्जती होगी। जो अभी माया की बहुत इज्जत वाले हैं, वह बेइज्जत बन जायेंगे। यह है ईश्वरीय इज्जत। वह है आसुरी इज्जत। ईश्व-रीय अथवा दैवी इज्जत और आसुरी इज्जत में रात-दिन का फ़र्क है। हम आसुरी इज्जत वाले थे अब फिर दैवी इज्जत वाले बनते हैं। आसुरी इज्जत से बिल्कुल बेगर बन जाते हो। यह है कांटों की दुनिया तो बेइज्जती हुई ना। फिर कितनी इज्जत वाले बनते हो। यथा राजा रानी तथा प्रजा। बेहद का बाप तुम्हारी इज्जत बहुत ऊंच बनाते हैं तो इतना पुरूषार्थ भी करना है। सब कहते हैं हम अपनी इज्जत ऐसी बनावें अर्थात् नर से नारा-यण, नारी से लक्ष्मी बन जावें। इनसे ऊंच इज्जत कोई की है नहीं। कथा भी नर से नारायण बनने की ही सुनते हैं। अमरकथा, तीजरी की कथा यह एक ही है। यह कथा अभी ही तुम सुनते हो।

तुम बच्चे विश्व के मालिक थे फिर 84 जन्म लेते नीचे उतरते आये हो। फिर पहला नम्बर का जन्म होगा। पहले नम्बर जन्म में तुम बहुत ऊंच पद पाते हो। राम इज्जत वाला बनाते हैं, रावण बेइज्जतवान बना देते हैं। इस नॉलेज से ही तुम मुक्ति-जीवनमुक्ति को पाते हो। आधाकल्प रावण का नाम नहीं रहता है। यह बातें अभी तुम बच्चों की बुद्धि में आती हैं सो भी नम्बरवार। कल्प-कल्प ऐसे ही तुम नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार समझदार बनते हो। माया ग़फलत कराती है। बेहद के बाप को याद करना ही भूल जाते हैं। भगवान पढ़ाते हैं, वह हमारा टीचर बना है। फिर भी अबसेन्ट रहते हैं, पढ़ते नहीं हैं। दर-दर धक्के खाने की आदत पड़ी हुई है। पढ़ाई पर जिनका ध्यान नहीं रहता है तो उनको फिर नौकरी में लगा देना होता है। धोबी आदि का काम करते हैं। उसमें पढ़ाई की क्या दरकार है। व्यापार में मनुष्य मल्टीमिल्युनर बन जाते हैं। नौकरी में इतना नहीं बनेंगे। उसमें तो फिक्स पगार मिलेगी। अब तुम्हारी पढ़ाई है विश्व की बादशाही के लिए। यहाँ कहते हैं ना हम भारतवासी हैं। पीछे फिर तुमको कहेंगे विश्व के मालिक। वहाँ देवी-देवता धर्म के सिवाए दूसरा कोई धर्म होता नहीं। बाप तुमको विश्व का मालिक बनाते हैं तो उनकी मत पर चलना चाहिए। कोई भी विकार का भूत नहीं होना चाहिए। ये भूत बहुत खराब हैं। कामी की हेल्थ बिगड़ती रहती है। ताकत कम हो जाती है। इस काम विकार ने तुम्हारी ताकत बिल्कुल खत्म कर दी है। नतीजा यह हुआ है आयु कम होती गई है। भोगी बन पड़े हो। कामी, भोगी, रोगी सब बन जाते हैं। वहाँ विकार होता नहीं। तो योगी होते हैं सदैव तन्दुरूस्त और आयु भी 150 वर्ष होती है। वहाँ काल खाता नहीं। इस पर एक कथा भी बताते हैं – कोई से पूछा गया पहले सुख चाहिए या पहले दु:ख चाहिए? तो उनको कोई ने इशारा दिया बोलो पहले सुख चाहिए क्योंकि सुख में चले जायेंगे तो वहाँ कोई काल आयेगा नहीं। अन्दर घुस न सके। एक कथा बना दी है। बाप समझाते हैं तुम सुख-धाम में रहते हो तो वहाँ कोई काल होता नहीं। रावणराज्य ही नहीं। फिर जब विकारी बनते हैं तो काल आता है। कथायें कितनी बना दी है, काल ले गया फिर यह हुआ। न काल देखने में आता है, न आत्मा दिखाई पड़ती है, इनको कहा जाता है दन्त कथायें। कनरस की बहुत कहानियां हैं। अब बाप समझाते हैं वहाँ अकाले मृत्यु कभी होता नहीं। आयु बड़ी होती है और पवित्र रहते हैं। 16 कला फिर कला कम होते-होते एकदम नो कला हो जाते हैं। मैं निर्गुण हारे में कोई गुण नाही। एक निर्गुण संस्था भी बच्चों की है। कहते हैं हमारे में कोई गुण नाहीं। हमको गुणवान बनाओ। सर्वगुण सम्पन्न बनाओ। अब बाप कहते हैं पवित्र बनना है। मरना भी है सबको। इतने ढेर मनुष्य सतयुग में नहीं होते। अभी तो कितने ढेर हैं। वहाँ बच्चा भी योगबल से होता है। यहाँ तो देखो कितने बच्चे पैदा करते रहते हैं। बाप फिर भी कहते हैं बाप को याद करो। वह बाप ही पढ़ाते हैं, टीचर पढ़ाने वाला याद पड़ता है। तुम जानते हो शिवबाबा हमको पढ़ा रहे हैं। क्या पढ़ाते हैं, वह भी तुमको मालूम है। तो बाप अथवा टीचर से योग लगाना है। नॉलेज बहुत ऊंची है। अभी तुम सबकी स्टूडेन्ट लाइफ है। ऐसी युनिवर्सिटी कभी देखी, जहाँ बच्चे बूढ़े, जवान सब इकट्ठे पढ़ते हो। एक ही स्कूल, एक ही पढ़ाने वाला टीचर हो और जिसमें ब्रह्मा स्वयं भी पढ़ता हो। वन्डर है ना। शिवबाबा तुमको पढ़ाते हैं। यह ब्रह्मा भी सुनते हैं। बच्चा चाहे बुढ़ा, कोई भी पढ़ सकते हैं। तुम भी पढ़ते हो ना यह नॉलेज। अब पढ़ाना शुरू कर दिया है। दिन-प्रतिदिन टाइम कम होता चला जाता है। अभी तुम बेहद में चले गये हो। जानते हो यह 5 हज़ार वर्ष का चक्र कैसे पास हुआ। पहले एक धर्म था। अभी कितने ढेर धर्म हैं। अभी सावरन्टी नहीं कहेंगे। इनको कहा जाता है प्रजा का प्रजा पर राज्य। पहले-पहले बहुत पावरफुल धर्म था। सारे विश्व के मालिक थे। अभी अधर्मी बन पड़े हैं। कोई धर्म नहीं है। सबमें 5 विकार हैं। बेहद का बाप कहते हैं – बच्चों अब धीर्य धरो, बाकी थोड़ा समय तुम इस रावणराज्य में हो। अच्छी रीति पढ़ेंगे तो फिर सुखधाम में चले जायेंगे। यह है दु:खधाम। तुम अपने शान्तिधाम और सुखधाम को याद करो, इस दु:खधाम को भूलते जाओ। आत्माओं का बाप डायरेक्शन देते हैं – हे रूहानी बच्चों! रूहानी बच्चों ने इन आरगन्स द्वारा सुना। तुम आत्मायें जब सतयुग में सतोप्रधान थी तो तुम्हारा शरीर भी फर्स्टक्लास सतोप्रधान था। तुम बड़े धनवान थे फिर पुनर्जन्म लेते-लेते क्या बन गये हो! रात-दिन का फर्क है। दिन में हम स्वर्ग में थे, रात में हम नर्क में हैं। इनको कहा जाता है ब्रह्मा का सो ब्राह्मणों का दिन और रात। 63 जन्म धक्के खाते रहते हैं, अन्धियारी रात है ना। भट-कते रहते हैं। भगवान् कोई को मिलता ही नहीं। इसको कहा जाता है भूलभुलैया का खेल। तो बाप तुम बच्चों को सारी सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का समाचार सुनाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) दर-दर धक्के खाने की आदत छोड़ भगवान की पढ़ाई ध्यान से पढ़नी है। कभी अबसेन्ट नहीं होना है। बाप समान टीचर भी जरूर बनना है। पढ़कर फिर पढ़ाना है।

2) सत्य नारायण की सच्ची कथा सुन नर से नारायण बनना है, ऐसा इज्जतवान स्वयं को स्वयं ही बनाना है। कभी भूतों के वशीभूत हो इज्जत गॅवानी नहीं है।

वरदान:- बीती हुई बातों वा वृत्तियों को समाप्त कर सम्पूर्ण सफलता प्राप्त करने वाली स्वच्छ आत्मा भव
सेवा में स्वच्छ बुद्धि, स्वच्छ वृत्ति और स्वच्छ कर्म सफलता का सहज आधार है। कोई भी सेवा का कार्य जब आरम्भ करते हो तो पहले चेक करो कि बुद्धि में किसी आत्मा की बीती हुई बातों की स्मृति तो नहीं है। उसी वृत्ति, दृष्टि से उनको देखना, उनसे बोलना …इससे सम्पूर्ण सफलता नहीं हो सकती, इसलिए बीती हुई बातों को वा वृत्तियों को समाप्त कर स्वच्छ आत्मा बनो तब ही सम्पूर्ण सफलता प्राप्त होगी।
स्लोगन:- जो स्व परिवर्तन करता है – विजय माला उसी के गले में पड़ती है।

TODAY MURLI 10 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 10 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 9 October 2018 :- Click Here

10/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, everything the Father tells you is new for the new world. He gives you new directions and this is why His ways and means are remembered as unique.
Question: In which aspect does the merciful Father caution all you children in order for you to make your fortune elevated?
Answer: Baba says: If you want to make your fortune elevated, do service. If you simply eat and sleep and don’t do service, you won’t be able to make your fortune elevated. To eat without doing service is wrong. Therefore, Baba cautions you. Everything depends on how you study. You Brahmins have to study and teach others. You have to relate the true Gita. The Father has mercy for you and this is why He continues to enlighten you about everything.
Song: From the day that You and I met, everything has seemed new. 

Om shanti. The spiritual Father explains to you. When children find the unlimited Father, everything He tells them is new because this Father is the One who establishes the new world. Human beings cannot say such new things. The Father, who is also called Heavenly God, the Father, is the unlimited Father who establishes heaven. It is Ravan who establishes hell. There are five vices in the female and five vices in the male. That is the Ravan community. So, these things that Baba has told you about are new, are they not? It is the Supreme Father, the Supreme Soul, who is called Rama, who creates heaven. It is Ravan who creates hell. People make an effigy of him every year and burn it. Once someone has been burnt, you wouldn’t be able to see his effigy (form) again. That soul goes and takes another body; his features etc. all change. Here, they make a Ravan with the same features every year and then burn it. In fact, just as incorporeal Shiv Baba doesn’t have any features, in the same way, Ravan doesn’t have any features either. Ravan is the vices. The Father explains what the people on the path of devotion want. God comes to give the fruit of devotion and to give protection because there is a lot of sorrow in devotion. There is temporary happiness. The lives of the people of Bharat are very unhappy. Someone’s child might have died, someone might have gone bankrupt; their lives are unhappy. The Father says: I come to make everyone’s life happy. The Father comes and tells you new things. He says: I have come to establish heaven. There, you will not indulge in vice. That is the viceless kingdom and this is the vicious kingdom. If you want the kingdom of heaven, then only the Father establishes that. Ravan establishes the kingdom of hell. The Father asks you: Will you come to heaven? Will you become the emperors and empresses of Paradise, the masters of the world? These things are not mentioned in the Vedas or scriptures. The Father doesn’t tell you to say, “Rama, Rama” or to stumble from door to door or go to the temples and pilgrimage places or study the Gita and Bhagawad etc; no. There are no scriptures in the golden age. No matter how many Vedas and scriptures you study or how many sacrificial fires you hold or chanting you do or donations you give or charity you perform, all of that is simply stumbling. There is no attainment through that. There is no aim or objective on the path of devotion. I have come to make you into the masters of heaven. At this time, all are residents of hell. If you tell anyone that he is a resident of hell, he would get upset. In fact, you know that the iron age is called hell and that the golden age is called heaven. The Father has brought the sovereignty of Paradise. He says: If you want to become the masters of heaven, you definitely have to become pure. The main thing is purity. Some people say that they would never be able to remain pure. Oh! but you are made pure so that you can go to heaven. First of all, you have to return to the land of peace and then go to heaven. You tell those of all religions: You have to renounce your body, become bodiless and then return home. Therefore, you have to break body consciousness. It is a bodily religions when you say, “I am a Christian” or “I am a Buddhist”. Souls reside in the sweet home. So, the Father says: Will you return to the land of liberation? There, you will remain in peace. Tell Me, how will you be able to go back? Remember Me, your Father, and your sweet home. Renounce all the religions of the body. “This one is a maternal uncle, this one is a paternal uncle”. Renounce all those bodily relations. Consider yourself to be a bodiless soul. Remember Me! That’s all. This is the only effort. I do not tell you anything else. Renounce all the scriptures etc. that you have studied. I am giving you new directions for the new world. It is said that God’s ways and means are unique. ‘Gati’ is said to be liberation. The Father tells you new things. When people hear these things, they say that whatever you tell them here are new things. These are not the things of the scriptures. In fact, these are the things of the Gita, but people have falsified the Gita. I have not taken up the Gita, the religious book. That is written later. I speak knowledge to you. No one else would ever say: You are My long-lost and now-found children. Only the incorporeal, Supreme Soul says this. He speaks to incorporeal souls. The souls listen to Him. This body is the organ. No one understands these things. There, human beings speak to human beings whereas the Supreme Soul sits here and speaks to souls. We souls listen to Him through these ears. You know that the Supreme Father, the Supreme Soul, sits here and explains to us. People wonder how God would explain. They think that it is God Krishna who speaks. Oh! but Krishna is a bodily being. I am not a bodily being. I am bodiless and I speak to bodiless souls. So, people are amazed when they hear these new things. The children who heard this in the previous cycle like this a lot. They study here and they say: Mama, Baba. There cannot be blind faith here. In a worldly way too, children would call their parents mother and father. You now have to stop remembering those worldly parents and remember the parlokik Mother and Father. This parlokik Mother and Father is the One who teaches you the exchange of nectar. He says: O children, now stop giving and taking poison. Give one another the teachings that I give you and you will become the masters of heaven. If you listen to even a little, you will go to heaven. However, if you are unable to make others the same as yourselves, you will go and become maids and servants. Maids and servants are numberwise. The maids and servants who look after the children would surely be those with a good status. If, while staying here, you don’t study, you become maids and servants. Subjects too are numberwise. Those who study well receive a very high status. The wealthy subjects would have maids and servants. Each one of you has to look at your own face: What am I worthy of becoming? If any of you were to ask Baba, Baba would quickly tell you. The Father knows everything and He also shows you the evidence for why that is what you will become. Even though someone may have surrendered himself or herself, there is an account in that too. If they have surrendered themselves but don’t do service and simply continue to eat and drink, they use up and finish what they gave. They eat away all they gave and don’t do service and they therefore become third  class maids and servants. Yes, if someone does service and eats, that’s fine. If someone doesn’t do any service, but simply eats away, he would use everything up and would then accumulate a burden. Some stay here and eat away whatever they gave. Some don’t give anything, but they do perform a lot of service and so they claim a high status. Mama didn’t give any wealth, but she attains a very high status because she does Baba’s spiritual service. There is an account. Some have the intoxication that they gave everything they had to Baba and that they have surrendered themselves. However, they do eat, do they not? Baba gives you all the examples. If you don’t do service , you just eat and finish it all. It is said: Those who sleep lose out. To eat without doing eight hours of service is wrong. If you continue to eat, you won’t be able to accumulate anything and you will then have to do service. The Father has to tell you everything so that no one can say: Why didn’t You tell us before? Baba gave everything and he also continued to do service and that’s why he receives a high status. If you surrender yourself but simply sit and eat away and don’t do service, what would you become? Some don’t follow shrimat. Baba is especially explaining to you so that, at the end, no one can ask: Why is my status like this? The Father explains: This will be the consequence cycle after cycle if you do not do service and eat for free. Therefore, Baba continues to caution you. You should understand that your status would be destroyed for cycle after cycle. Baba feels mercy and this is why He enlightens you about everything. If you don’t do service, you won’t be able to claim a high status. Those who live at home with their families and do service receive a very high status. Everything depends on studying and teaching others. You are Brahmins. You have to relate the true Gita. Those people carry a religious book under their arms. You don’t carry anything under your arms. You are true Brahmins. You have to relate the truth and enable them to have true attainment. All the rest have made you go into loss. This is why it is written that all of that is false. Baba tells you the truth and makes you into the masters of the land of truth. These matters have to be understood. It is not a small thing to become a master of the world! Those who are sensible children will continue to make plans: We will build such buildings with golden bricks. We will do this. While a child of a wealthy person is growing up, he would have such thoughts as: I will do this and I will build this. You too are going to become princes in the future and so you would have the interest: I will build such palaces that no one else would have. Those who study well and teach others would have these thoughts. There will be the sovereignty. So, you should have such thoughts in your intellects: With which number will I pass? This is a very big school. Many hundreds of thousands and millions will come here to study. Only the Father sits here and explains all of these things. God is One. He is called the Mother and Father. He comes and adopts you. These are such deep matters. This is a new school and the One teaching you is new. He explains to you so well. The aprons of those who are worthy will be filled. They will remember the Father. The Mother and Father never forget anyone. So, how can the children of the confluence age forget the Father? Achcha.

The world is in chaos whereas you children are in silence. There is peace in silence and happiness in peace. You know that, after liberation, there is liberation-in-life. You children simply have to remember two words: Alpha, Allah, and beta, the sovereignty. By simply remembering one Alpha, you received the sovereignty. What else remains? There is then just buttermilk left. When you have found Alpha, it means you have found the butter and all the rest is buttermilk. It is like that, is it not? We stay in silence. You know that you stay in silence and follow shrimat. However, it is a wonder that some children don’t remember Alpha fully; they forget Him. Maya brings storms. The Father also says: Manmanabhav, madhyajibhav. These words are mentioned in the Gita. You should ask those who study the Gita: What is the meaning of “Manmanabhav and Madhyajibhav”? The Father says: Remember Me and you will receive the sovereignty. Renounce all bodily religions and become bodiless and remember the Father and you will receive the sovereignty. It is also mentioned in the Granth: Chant the name of Alpha and you will receive the sovereignty. You receive the sovereignty of the land of truth. Compared to the world, you are completely unique. No one else would say this. The Father is telling you new things. All the rest only speak of old things. This is something very easy. Belong to Alpha and you will receive the sovereignty. You still have to make effort. The more service you do to make others the same as yourself, the more fruit you will receive. People neither know Alpha nor beta. Beta means the butter of the sovereignty. They show butter in the mouth of Krishna. Surely, the One who established heaven would have given the sovereignty. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You have to return to the sweet home. Therefore, forget bodily religions and relations and consider yourself to be bodiless. Maintain this practice.
  2. Give others the teachings that you have received from the Father. Make others the same as yourself. You definitely have to do eight hours of s ervice.
Blessing: May you give and take power through your drishti and be a great donor and become an image that grant blessings.
As you progress further, there will be no time or circumstances to serve with words. Then, it is only by being a bestower of blessings and a great donor that you will be able to give an experience of the powers of peace, love, happiness and bliss. When you used to go in front of the non-living idols, you received vibrations from their face s and you experienced divinity from their eyes. It is because you did this service in the corporeal form that the non-living images were created. Therefore, practise giving and taking power through your drishti and you will become a great donor and an image that grants blessings.
Slogan: Let there be the sparkle of happiness, peace and joy in your features and you can make the future elevated for many souls.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 10 OCTOBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 October 2018

To Read Murli 9 October 2018 :- Click Here
10-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – नई दुनिया के लिए बाप तुम्हें सब नई बातें सुनाते, नई मत देते इसलिए उनकी गत-मत न्यारी गाई जाती है”
प्रश्नः- रहमदिल बाप सभी बच्चों को किस बात में सावधान कर ऊंच तकदीर बना देते हैं?
उत्तर:- बाबा कहते – बच्चे, ऊंच तकदीर बनानी है तो सर्विस करो। अगर खाया और सोया, सर्विस नहीं की तो ऊंची तकदीर नहीं बना सकेंगे। सर्विस के बिगर खाना हराम है, इसलिए बाबा सावधान करते। सारा मदार पढ़ाई पर है। तुम ब्राह्मणों को पढ़ना और पढ़ाना है, सच्ची गीता सुनानी है। बाप को रहम पड़ता है इसलिए हर बात की रोशनी देते रहते हैं।
गीत:- जिस दिन से मिले हम तुम…….. 

ओम् शान्ति। रूहानी बाप समझाते हैं। जब बच्चों को बेहद का बाप मिलता है तो हर एक बात नई सुनाते हैं क्योंकि यह बाप नई दुनिया स्थापन करने वाला है। मनुष्य तो ऐसी नई बातें सुना न सकें। बाप, जिसको हेविनली गॉड फादर कहा जाता है, वह बेहद का बाप स्वर्ग की स्थापना करने वाला है। नर्क की स्थापना करने वाला है रावण। 5 विकार स्त्री में, 5 विकार पुरुष में, वह हो गई रावण सम्प्रदाय। तो यह नई बात सुनाई ना! स्वर्ग बनाने वाला है परमपिता परमात्मा, जिसको राम कहते हैं। नर्क बनाने वाला है रावण, जिसका चित्र बनाकर वर्ष-वर्ष जलाते हैं। एक बार जल गया तो फिर उनका एफीजी देखने में थोड़ेही आयेगा। वह आत्मा जाकर दूसरा शरीर लेती है। फीचर्स आदि बदल जाते हैं। यह तो रावण के वही फीचर्स वर्ष-वर्ष बनाते और जलाते हैं। वास्तव में जैसे निराकार शिवबाबा का कोई फीचर नहीं, वैसे रावण का भी कोई फीचर नहीं। यह रावण तो विकार हैं। बाप यह समझाते हैं। मनुष्य भक्ति मार्ग में क्या चाहते हैं? भगवान् आते ही हैं भक्ति का फल देने वा रक्षा करने क्योंकि भक्ति में दु:ख बहुत है। सुख है अल्प-काल क्षण भंगुर। भारतवासियों का बिल्कुल दु:खी जीवन है। कोई का बच्चा मरा, कोई का देवाला निकला, जीवन तो दु:खी रहता है ना। बाप कहते हैं मैं आता हूँ सभी का जीवन सुखी बनाने। बाप आकर के नई बात बताते हैं, कहते हैं मैं आया हूँ स्वर्ग की स्थापना करने। वहाँ तुम विकार में नहीं जायेंगे। वह है निर्विकारी राज्य, यह है विकारी राज्य। अगर तुमको स्वर्ग का राज्य चाहिए तो वह बाप ही स्थापन करते हैं। नर्क का राज्य रावण स्थापन करते हैं। तो बाप पूछते हैं तुम स्वर्ग में चलेंगे? वैकुण्ठ की महारानी-महाराजा विश्व के मालिक बनेंगे? यह कोई वेद-शास्त्र आदि की बातें नहीं हैं। बाप ऐसे नहीं कहते कि राम-राम कहो वा दर-दर धक्के खाओ, मन्दिरों, तीर्थो आदि में जाओ वा गीता, भागवत आदि बैठकर पढ़ो। नहीं, सतयुग में तो शास्त्र होते नहीं। तुम भल कितने भी वेद-शास्त्र आदि पढ़ो, यज्ञ, जप, दान-पुण्य आदि करो – यह है ही धक्के खाना, इनसे प्राप्ति कुछ भी नहीं। भक्ति मार्ग में कोई एम आब्जेक्ट नहीं है। मैं तुमको स्वर्ग का मालिक बनाने आया हूँ। इस समय सब नर्कवासी हैं। अगर कोई को कहो तुम नर्कवासी हो तो बिगड़ेंगे। वास्तव में तुम जानते हो नर्क कलियुग को और स्वर्ग सतयुग को कहा जाता है। बाप वैकुण्ठ की बादशाही ले आये हैं। कहते हैं स्वर्ग का मालिक बनना है तो पवित्र जरूर बनना पड़ेगा। मूल बात सारी पवित्रता की है। कई मनुष्य कहते हैं हम पवित्र तो कभी नहीं रह सकते। अरे, तुमको पावन बनाते हैं स्वर्ग में चलने लिए। पहले वापिस शान्तिधाम में जाकर फिर स्वर्ग में आना है। सभी धर्म वालों को कहते हैं देह को छोड़ अशरीरी बनकर जाना है इसलिए देह के अभिमान को तोड़ो। मैं क्रिश्चियन हूँ, बौद्धी हूँ, यह सब हैं देह के धर्म। आत्मा तो स्वीट होम में रहती है।

तो अब बाप कहते हैं वापिस मुक्तिधाम चलेंगे? वहाँ तुम शान्ति में रहेंगे। बताओ तुम वापिस कैसे चल सकते हो? मुझ बाप को और अपने स्वीट होम को याद करो। देह के सब धर्म छोड़ो। यह मामा है, काका है, चाचा है इन सब देह के सम्बन्धों को छोड़ो। अपने को देही समझो। मुझे याद करो। बस यह है मेहनत और मैं कुछ नहीं सुनाता हूँ। शास्त्र आदि जो पढ़े हो वह सब छोड़ो। मैं नई दुनिया के लिए तुमको नई मत देता हूँ। कहा जाता है ना – ईश्वर की गत और मत न्यारी है। गति कहा जाता है मुक्ति को। बाप नई बात सुनाते हैं ना। मनुष्य भी जब सुनते हैं तो कहते हैं यहाँ तो नई बातें हैं। शास्त्रों की कोई बात नहीं। यूँ तो है गीता की बात परन्तु मनुष्यों ने गीता को भी खण्डन कर दिया है। मैंने तो गीता पुस्तक कुछ भी नहीं उठाई है। वह तो बाद में बनती है। मैं तो तुमको ज्ञान सुनाता हूँ। ऐसे कभी कोई नहीं कहेंगे कि तुम मेरे सिकीलधे बच्चे हो। यह निराकार परमात्मा ही कहते हैं। निराकार आत्माओं से बात करते हैं। आत्मा सुनती है, यह शरीर है आरगन्स। यह बात कभी कोई समझते नहीं। वह मनुष्य, मनुष्य को सुनाते हैं, यह परमात्मा बैठ आत्माओं को सुनाते हैं। हम आत्मायें सुनती हैं इन कानों द्वारा। तुम जानते हो परमपिता परमात्मा बैठ समझाते हैं। मनुष्य तो यह वन्डर खाते हैं – भगवान् कैसे समझायेगा। वह तो समझते हैं कृष्ण भगवानुवाच। अरे, कृष्ण तो देहधारी था। मैं तो देहधारी नहीं, मैं विदेही हूँ और विदेही आत्माओं को सुनाता हूँ। तो यह नई बातें सुनने से मनुष्य चकित हो जाते हैं। जो कल्प पहले बच्चे सुनकर गये हैं उन्हों को तो बहुत अच्छा लगता है, पढ़ते हैं, मम्मा-बाबा कहते हैं। इसमें अन्धश्रधा की तो कोई बात हो न सके। लौकिक रीति भी बच्चे माँ-बाप को, माँ-बाप कहते हैं। अभी तुम उन लौकिक माँ-बाप की याद छोड़ पारलौकिक मात-पिता को याद करो। यह पारलौकिक माँ-बाप तुम्हें अमृत की लेन-देन सिखलाने वाले हैं। कहते हैं – हे बच्चे, अब विष की लेन-देन छोड़ो। मैं तुमको जो शिक्षा देता हूँ वह एक-दो को दो तो तुम स्वर्ग के मालिक बन जायेंगे। थोड़ा सुनेंगे तो भी स्वर्ग में आ जायेंगे। परन्तु औरों को आपसमान नहीं बना सकते तो दास-दासी जाकर बनेंगे। दास-दासियों में भी नम्बरवार होते हैं। बच्चों को सम्भालने वाले दास-दासियां जरूर अच्छे मर्तबे वाले होंगे। यहाँ रहते हुए फिर अगर पढ़ते नहीं तो दास-दासी बन पड़ते हैं। प्रजा में भी नम्बरवार होते हैं। जो अच्छी रीति पढ़ते हैं वह इतना ऊंच पद पाते हैं। प्रजा में साहूकारों के भी दास-दासियां होंगे। हर एक को अपनी शक्ल देखनी है – हम क्या बनने लायक हैं? बाबा से अगर कोई पूछे तो बाबा झट बता देंगे। बाप तो सब-कुछ जानते हैं और सिद्ध कर बतलाते हैं कि इस कारण यह तुम बनेंगे। भल सरेन्डर किया है, उसका भी हिसाब-किताब है। सरेन्डर किया है परन्तु कुछ सर्विस नहीं करते, सिर्फ खाते-पीते रहते तो जो दिया वह खाकर ख़त्म करते हैं। दिया सो खाया, सर्विस नहीं की तो थर्ड क्लास दास-दासी जाकर बनेंगे। हाँ, सर्विस करते हैं और खाते हैं तो ठीक है। धंधा कुछ नहीं करते तो खा-खा कर ख़त्म कर देते हैं फिर और भी बोझा चढ़ जाता है। यहाँ रहते हैं जो दिया सो खाया। जो भल नहीं देते हैं परन्तु सर्विस बहुत करते हैं तो वह ऊंच पद पा लेते हैं। मम्मा ने धन कुछ नहीं दिया, परन्तु पद बहुत ऊंच पाती है क्योंकि बाबा की रूहानी सर्विस करती है। हिसाब है ना। कइयों को नशा रहता है हमने तो सब कुछ दिया है, सरेन्डर हुए हैं। परन्तु खाते भी तो हैं ना। बाबा मिसाल तो सब बताते हैं। सर्विस नहीं की खाया और ख़लास किया। कहते हैं ना – जिन सोया तिन खोया। 8 घण्टा सर्विस करने बिगर खाना हराम है। खाते रहेंगे तो जमा कुछ नहीं होगा फिर सर्विस करनी पड़ेगी। बाप को तो सब बतलाना पड़ता है ना, जो कोई ऐसे नहीं कहे कि हमको बतलाया क्यों नहीं? बाबा ने सब-कुछ दिया और फिर सर्विस भी करते रहते हैं, तो ऊंच पद भी है। सरेन्डर हुए और बैठ खाया, सर्विस नहीं की तो क्या बनेगा? श्रीमत पर चलते नहीं। बाबा ख़ास समझा रहे हैं। ऐसे नहीं कि पिछाड़ी को कहे कि हमारा पद ऐसा क्यों हुआ? तो बाप समझाते हैं सर्विस न करना, मुफ्त में खाना, उसका नतीजा कल्प-कल्पान्तर का यह हो जायेगा इसलिए बाबा सावधान करते हैं। समझना चाहिए कल्प-कल्पान्तर के लिए हमारा पद भ्रष्ट हो जायेगा। बाबा को रहम पड़ता है इसलिए हर बात की रोशनी देते हैं। सर्विस नहीं करेंगे तो ऊंच पद नहीं पा सकेंगे। जो गृहस्थ व्यवहार में रहते सर्विस करते हैं, उनका पद बहुत ऊंच है।

सारा मदार पढ़ाई और पढ़ाने पर है। तुम ब्राह्मण हो, तुमको सच्ची गीता सुनानी है। वह तो कच्छ में कुरम उठाते हैं। तुम्हारे कच्छ में कुछ नहीं। तुम हो सच्चे ब्राह्मण। तुमको सच सुनाना है, सच्ची प्राप्ति करानी है, और सबने घाटा ही दिलाया है इसलिए लिखा जाता है वह सब झूठ है। बाबा सच सुनाकर सचखण्ड का मालिक बनाते हैं। यह तो समझने की बात है। विश्व का मालिक बनना कम बात है क्या! सेन्सीबुल बच्चे जो होंगे वह तो प्लैन बनाते रहेंगे – हम सोने की ईटों का ऐसे-ऐसे मकान बनायेंगे, यह करेंगे। साहूकार का बच्चा जैसे बड़ा होता जायेगा तो उनके ख्यालात चलेंगे – हम ऐसे करेंगे, यह बनायेंगे। तुम भी भविष्य में प्रिन्स बनते हो तो शौक होगा ना – हम ऐसे-ऐसे महल बनायेंगे। जो और कोई का नहीं होगा। यह ख्यालात उनके चलेंगे जो अच्छी रीति पढ़कर पढ़ाते हैं। बादशाही तो होगी ना। तो बुद्धि में यह ख्यालात चलनी चाहिए – हम कितने नम्बर से पास होंगे? बड़ा भारी स्कूल है, इसमें लाखों करोड़ों पढ़ेंगे, ढेर आयेंगे। यह सब बातें बाप ही बैठ समझाते हैं। भगवान् एक है, उनको ही मात-पिता कहते हैं – वह आकर एडाप्ट करते हैं। कितनी गुह्य बातें हैं। यह नया स्कूल है, नया पढ़ाने वाला है। कितना अच्छी रीति समझाते हैं। झोली उनकी भरेगी जो लायक होंगे, बाप को याद करेंगे। माँ-बाप को कभी कोई भूलता नहीं है। फिर संगमयुगी बच्चे बाप को भूल कैसे सकते हैं। अच्छा!

दुनिया धमपा में है और तुम बच्चे चुप हो। चुप में है शान्ति, शान्ति में है सुख। तुम जानते हो मुक्ति के बाद फिर है जीवनमुक्ति। तुम बच्चों को सिर्फ दो अक्षर याद हैं – अल्फ अल्लाह और बे बादशाही। सिर्फ एक अल्फ को याद करने से बादशाही मिल गई। बाकी क्या बचा? बाकी रही छांछ। अल्फ मिला गोया मक्खन मिला, बाकी सब है छांछ। ऐसे हैं ना? हम चुप रहते हैं। जानते हैं चुप रहकर हम श्रीमत पर चलते हैं। परन्तु वन्डर यह है कि बच्चे अल्फ को भी पूरा याद नहीं करते, भूल जाते हैं। माया तूफान लाती है। बाप भी कहते हैं मनमनाभव, मध्याजीभव। गीता में अक्षर हैं। तो तुमको गीता वालों से अर्थ पूछना चाहिए कि मनमनाभव, मध्याजीभव का अर्थ क्या है? बाप कहते हैं मुझे याद करो तो तुमको बादशाही मिलेगी। सब देह के धर्म छोड़ देही बन जाओ और बाप को याद करो तो बादशाही मिलेगी। ग्रंथ में भी कहते हैं – जपो अल्फ को तो बादशाही मिलेगी। सचखण्ड की राजाई मिलती है। हम दुनिया से बिल्कुल न्यारे हैं, और कोई भी ऐसे नहीं कहेंगे। बाप तुम्हें नई बातें सुनाते हैं, बाकी सब पुरानी बातें ही सुनाते हैं। बात बड़ी सहज है। अल्फ के बनो तो बादशाही मिलेगी। फिर भी पुरुषार्थ तो करना पड़े। आपसमान बनाने की जितनी सर्विस करेंगे उतना फल मिलेगा। मनुष्य न अल्फ को जानते हैं, न बे को जानते हैं। बे माना बादशाही का मक्खन। कृष्ण के मुख में मक्खन दिखाते हैं ना। जरूर स्वर्ग की स्थापना करने वाले ने ही बादशाही दी होगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) वापिस स्वीट होम (घर) जाना है इसलिए देह के धर्मों और सम्बन्धों को भूल स्वयं को देही समझना है। इसी अभ्यास में रहना है।

2) बाप की जो शिक्षायें मिली हैं, वह दूसरों को देनी है, आप समान बनाना है। 8 घण्टे सर्विस जरूर करनी है।

वरदान:- दृष्टि द्वारा शक्ति लेने और शक्ति देने वाले महादानी, वरदानी मूर्त भव
आगे चलकर जब वाणी द्वारा सेवा करने का समय वा सरकमस्टांश नहीं होगा तब वरदानी, महादानी दृष्टि द्वारा ही शान्ति की शक्ति, प्रेम, सुख वा आनंद की शक्ति का अनुभव करा सकेंगे। जैसे जड़ मूर्तियों के सामने जाते हैं तो फेस (चेहरे) द्वारा वायब्रेशन मिलते हैं, नयनों से दिव्यता की अनुभूति होती है। तो आपने जब चैतन्य में यह सेवा की है तब जड़ मूर्तियां बनी हैं इसलिए दृष्टि द्वारा शक्ति लेने और देने का अभ्यास करो तब महादानी, वरदानी मूर्त बनेंगे।
स्लोगन:- फीचर्स में सुख-शान्ति और खुशी की झलक हो तो अनेक आत्माओं का फ्यूचर श्रेष्ठ बना सकते हो।
Font Resize