10 February ki murli

TODAY MURLI 10 FEBRUARY 2021 DAILY MURLI (English)

10/02/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have come to this university in order to die from this world and to go to the new world. Your love is now for the one God.
Question: With which method of remembering the Father do you become wealthy?
Answer: The Father is a point. Become a point and remember the Point and you will become wealthy. When you write a point (zero) beside one, it becomes 10 and then, when you write another zero beside it, it becomes 100 and then 1000. By your having remembrance of the Father, a zero continues to be added and you continue to become wealthier. Only by having this remembrance do you earn a true income.
Song: The Flame has ignited in the gathering for the moths.

Om shanti. The meaning of the song is so unique. For what is love created? For whom? For God, because when you die from this world, you go to Him. Do you have love like this for anyone else? Such love that you think you would die? Would anyone have such love? The meaning of the song is so wonderful. A moth has love for a flame, circles around it and then dies in the flame. When you love the Father you too have to shed your body, which means that you shed your body in remembrance of the Father. This song is of only the One. When that Father comes, those who love Him have to die from this world. When you love God, where will you go when you die? You will definitely go to God. People make donations and perform charity and go on pilgrimages etc. in order to go to God. Even when someone is about to die, people tell him to remember God. God is so famous. When He comes, He finishes the whole world. You understand that you come to this University to die from this old world and to go to the new world. The old world is called the impure world, hell. The Father is showing you the path to the new world. Simply remember Me. I am Heavenly God, the Father. You receive wealth, property, buildings etc. from that father. Daughters don’t receive an inheritance. They are sent to other homes, which means that they cannot become heirs. God is the Father of all souls; everyone has to go to Him. Since there are very few human beings in the new world, the Father must definitely come at some time to take everyone back home. There are many human beings in the old world. In the new world, there are few human beings and a great deal of happiness. In the old world there are many human beings and a great deal of sorrow, and this is why they call out. Bapu (Gandhiji) used to say: O Purifier, come! He didn’t really know Him. People understand that the Purifier is the Supreme Father, the Supreme Soul, God, that He is the Liberator of the world. Not everyone in the world believes in Rama and Sita. The whole world considers the Supreme Father, the Supreme Soul, to be the Liberator and the Guide. He liberates you from sorrow. Achcha, who then causes you sorrow? The Father cannot cause you sorrow because He is the Purifier. He is the One who takes you to the pure world, the land of happiness. You are the spiritual children of that spiritual Father. As is the Father, so the children. A physical father has physical children. You children now have to understand that you are souls and that the Supreme Father, the Supreme Soul, has come to give you your inheritance. When we become His children we definitely receive the inheritance of heaven. He is the One who establishes heaven. Don’t forget that you are students. It is in the intellects of you children that Shiv Baba plays the flute (murli) in Madhuban. It isn’t a bamboo flute here. Krishna dancing and playing a flute – all of that belongs to the path of devotion. However, it is only Shiv Baba who plays the flute of knowledge. Many people who compose very good songs will come to you. Generally, it is men who compose songs. You should only sing songs of knowledge through which you can remember Shiv Baba. The Father says: Remember Me, Alpha. Shiva is called a point. When businessmen write a zero, they refer to it as Shiva. Write a zero beside 1 and it becomes 10, and add another zero and it becomes 100. Then add another zero and it becomes 1000. You too have to remember Shiva. The more you remember Shiva, the more zeroes will be added and you become wealthy for half the cycle. There are no poor people there. Everyone there remains happy; there is no mention of sorrow. Your sins continue to be absolved by having remembrance of the Father and you become very wealthy. This is known as earning a true income from the true Father. Only this income will go with you. All human beings go back empty-handed. You will go with your hands full. Remember the Father. The Father has explained: If there is purity, you also receive peace and prosperity. You souls were pure at first and you then became impure. Sannyasis are called semi-pure. Your renunciation is full (total). You understand how much happiness they (sannyasis) receive; they have a little happiness and nothing else but sorrow. Previously, they never used to speak of omnipresence. By speaking of omnipresence, they have continued to come down. There are many types of gatherings in the world because they earn an income from them; that is also their business. It is said: All businesses, apart from the business of becoming Narayan from an ordinary man, are like dust. Scarcely anyone does this business. After belonging to the Father, you give everything, even your bodies, to the Father because you want new bodies. The Father says: You can go to the land of Krishna, but only when you souls become satopradhan from tamopradhan. In the land of Krishna, you don’t say: Make us pure! Here, all human beings call out: O Liberator, come. Liberate us from this world of sinful souls. You know that the Father has now come to take you back with Him. It is good to go there. People want peace. What is peace? No one can stay without performing actions. Peace exists in the land of peace. However, you still have to adopt bodies and perform actions. In the golden age, even though you perform actions, you do have peace. Peaceless people experience sorrow, for that is why they ask how can they receive peace. You children now know that the land of peace is your home. In the golden age, there is peace and happiness; there is everything there. Do you want that or do you only want peace? Because there is sorrow here, people call out here to the Purifier Father. People perform devotion in order to meet God. Devotion is at first unadulterated and then it becomes adulterated. Look what people do in adulterated devotion. Everything is shown so clearly in the picture of the ladder, but you first have to prove who God is. Who made Shri Krishna as he is? Who was he in his previous birth? You need to explain these things with great tact. The hearts of those who do good service witness it. Those who study well at a university definitely go ahead; it is numberwise, there are still some who are dull heads. Souls say to Shiv Baba: Open the lock on my intellect! The Father says: I have only come to open the locks on your intellects, but your actions are such that the locks just do not open. So, what can Baba do? Many sins have been committed. What would Baba do about such children? Students would tell the Teacher that they don’t study enough. What would the Teacher do? The Teacher would not have mercy. Perhaps He would give you extra time. That is not forbidden. The exhibition is wide open; you can go and practise there. On the path of devotion, some tell you to turn the beads of a rosary, and others tell you to remember a mantra. Here, the Father gives His own introduction. Remember the Father, for, by doing this, you will receive your inheritance. Therefore, you should claim your full inheritance from the Father very well. In this too, the Father says: Never indulge in vice. If you have the slightest taste for vice, it increases. Even if you have the taste for smoking a cigarette once, that habit would develop because of the colour of the company. It then becomes difficult to break that habit. They then make so many excuses. No habits should be developed. Dirty habits should be broken. The Father says: Renounce the consciousness of your bodies while alive and remember Me. Only pure food is offered as bhog to the deities. Therefore, you too should only eat pure food. Nowadays you can’t even obtain pure ghee; they just use oil instead. There is no oil etc. there. Here, they keep pure ghee and also artificial (mixed) ghee in the dairies. They say “pure ghee” for both and yet there is a difference in their cost. You children should now bloom like flowers and remain cheerful. There is natural beauty in heaven. There, even the elements are satopradhan. No one here can create natural beauty like that of Lakshmi and Narayan. No one can see them with their physical eyes. Yes, they do have visions but, even after seeing them in visions, no one can make an identical picture. Yes, if an artist has a vision and he continues to draw at that time, it would still be difficult in spite of that. So you children should have a lot of intoxication. Baba has now come to take us back home. We are going to receive the inheritance of heaven from the Father. Our 84 births are now coming to an end. By keeping such thoughts in your intellects, you will remain happy. There shouldn’t be the slightest thought of vice. The Father says: Lust is the greatest enemy. This is why Draupadi called out. She didn’t have five husbands. She called out to be saved because Dushashan was stripping her. How could she have had five husbands? Such things are not possible! You children continue to receive new points and so you have to keep changing the pictures. You should change something or other and add more words. You write that, in a short time, you will make Bharat into the land of angels; you issue this challenge. A father would tell his children: The son shows the father and the father shows the son. Which Father? Shiva and the saligrams; they are remembered. Follow whatever things Shiv Baba explains. It is of Him that it is said: Follow the Father! By following physical fathers you became impure. That One makes you follow Him in order to make you pure. There is a difference. The Father says: Sweetest children, follow Me and become pure. It is only by following Me that you will become the masters of heaven. While following your physical fathers, you have been coming down the ladder for 63 births. By following the Father, you ascend. You have to go back with the Father. The Father says: Each of these jewels is worth hundreds of thousands of rupees. You know the Father and you claim your inheritance from Him. They say that they will merge into the brahm element. No one can merge; they have to come again. The Father explains to you every day: Sweetest children, first of all, give everyone the Father’s introduction. The Father from beyond gives you the inheritance of purity. This is why people say to the unlimited Father: Purify us! He is the Purifier. A physical father cannot be called the Purifier. He himself continues to call out: O Purifier, come! Therefore, give the introduction of the two fathers to everyone. Your worldly fathers tell you to get married and become impure whereas the Father from beyond this world tells you to become pure. He says: By remembering Me, you will become pure. The one Father purifies everyone. These points are very good to explain to others. Churn the various points of knowledge and explain them to others. This is your business. You are the ones who purify the impure. The Father from beyond now says: Now become pure because destruction is just ahead. What should you do now? You should definitely follow the directions of the Father from beyond. You should write this promise at the exhibition: I will follow the Father from beyond and stop being impure. Write: I am giving this guarantee to the Father. Everything depends on purity. You children should have happiness day and night. The Father, Alpha, is giving us the inheritance of heaven, beta, the kingdom. You now understand that the birthday of Shiva means the birthday of the heaven of Bharat. The Gita is the jewel of all scriptures. It is said: Gita, the mother. Only from the Father do you receive your inheritance. Only Shiv Baba is the Creator of the Gita. You receive your inheritance of purity from the Father from beyond. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Always maintain the awareness that you are Godly students. Don’t create any dirty habits, but finish them. There shouldn’t be the slightest thought of vice.
  2. Forget the consciousness of the body while alive and remember the Father. Churn the different points of knowledge and do the business of purifying the impure.
Blessing: May you be one who has elevated fortune and with the intoxication of your birthright, let your qualifications be equal to your aim.
In your physical life, your physical wealth is your birthright. Similarly, in Brahmin birth, the wealth of virtues, spiritual happiness and power are your birthright. Let there be the intoxication of your birthright in a natural way and there will be no need to make any effort. By having this intoxication, your qualifications will become according to your aim. While knowing and accepting yourself as you are, however you are and also knowing the elevated Father and family, you become one who has elevated fortune.
Slogan: Perform every action while stabilized in your original stage and you will easily become a star of success.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 10 FEBRUARY 2021 : AAJ KI MURLI

10-02-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम इस युनिवर्सिटी में आये हो पुरानी दुनिया से मरकर नई दुनिया में जाने, अभी तुम्हारी प्रीत एक भगवान से हुई है”
प्रश्नः- किस विधि से बाप की याद तुम्हें साहूकार बना देती है?
उत्तर:- बाप है बिन्दु। तुम बिन्दु बन बिन्दु को याद करो तो साहूकार बन जायेंगे। जैसे एक के साथ बिन्दु लगाओ तो 10 फिर बिन्दु लगाओ तो 100, फिर 1000 हो जाता। ऐसे बाप की याद से बिन्दु लगती जाती है। तुम धनवान बनते जाते हो। याद में ही सच्ची कमाई है।
गीत:- महफिल में जल उठी शमा……..

ओम् शान्ति। इस गीत का अर्थ कितना विचित्र है – प्रीत बनी है किसके लिए? किससे बनी है? भगवान से क्योंकि इस दुनिया से मरकर उनके पास जाना है। ऐसे कभी किसके साथ प्रीत होती है क्या? जो यह ख्याल में आये कि मर जायेंगे। फिर कोई प्रीत रखेंगे? गीत का अर्थ कितना वन्डरफुल है। शमा से परवाने प्रीत रख फेरी पहन-पहन जल मरते हैं। तुमको भी बाप की प्रीत में यह शरीर छोड़ना है अर्थात् बाप को याद करते-करते शरीर छोड़ना है। यह गायन सिर्फ एक के लिए है। वह बाप जब आता है तो उनसे जो प्रीत रखते हैं, उनको इस दुनिया से मरना पड़ता है। भगवान से प्रीत रखते हैं तो मरकर कहाँ जायेंगे। जरूर भगवान के पास ही जायेंगे। मनुष्य दान-पुण्य तीर्थ यात्रा आदि करते हैं भगवान के पास जाने के लिए। शरीर छोड़ने समय भी मनुष्य को कहते हैं भगवान को याद करो। भगवान कितना नामीग्रामी है। वह आते हैं तो सारी दुनिया को खत्म कर देते हैं। तुम जानते हो हम इस युनिवर्सिटी में आते हैं पुरानी दुनिया से मरकर नई दुनिया में जाने के लिए। पुरानी दुनिया को पतित दुनिया, हेल कहा जाता है। बाप नई दुनिया में जाने का रास्ता बताते हैं। सिर्फ मुझे याद करो, मैं हूँ हेविनली गॉड फादर। उस फादर से तुमको धन मिलता, मिलकियत, मकान आदि मिलेंगे। बच्चियों को तो वर्सा मिलना नहीं है। उनको दूसरे घर भेज देते हैं। गोया वह वारिस नहीं ठहरी। यह भगवान तो है सभी आत्माओं का बाप, इनके पास सबको आना है। कोई समय जरूर बाप आते हैं सबको घर ले जाते हैं क्योंकि नई दुनिया में बहुत थोड़े मनुष्य होते हैं। पुरानी दुनिया में तो बहुत हैं। नई दुनिया में मनुष्य भी थोड़े और सुख भी बहुत होता है। पुरानी दुनिया में बहुत मनुष्य हैं तो दु:ख भी बहुत है, इसलिए पुकारते हैं। बापू गांधी भी कहते थे हे पतित-पावन आओ। सिर्फ उनको जानते नहीं थे। समझते भी हैं पतित-पावन परमपिता परमात्मा है, वही वर्ल्ड का लिबरेटर है। राम-सीता को तो सारी दुनिया नहीं मानेंगी। सारी दुनिया परमपिता परमात्मा को लिबरेटर, गाइड मानती है। लिबरेट करते हैं दु:ख से। अच्छा दु:ख देने वाला कौन? बाप तो दु:ख दे न सके क्योंकि वह तो पतित-पावन है। पावन दुनिया सुखधाम में ले जाने वाला है। तुम हो उस रूहानी बाप के रूहानी बच्चे। जैसा बाप, वैसे बच्चे। लौकिक बाप के हैं लौकिक अर्थात् जिस्मानी बच्चे। अभी तुम बच्चों को यह समझना है हम आत्मा हैं, परमपिता परमात्मा हमको वर्सा देने आये हैं। हम उनके बच्चे बनेंगे तो स्वर्ग का वर्सा जरूर मिलेगा। वह है ही स्वर्ग स्थापन करने वाला। हम स्टूडेन्ट हैं, यह भूलना नहीं चाहिए। बच्चों की बुद्धि में रहता है शिवबाबा मधुबन में मुरली बजाते हैं। वह (काठ की) मुरली तो यहाँ नहीं है। कृष्ण का डांस करना, मुरली बजाना – वह सब भक्ति मार्ग का है। बाकी ज्ञान की मुरली तो शिवबाबा ही बजाते हैं। तुम्हारे पास अच्छे-अच्छे गीत बनाने वाले आयेंगे। गीत अक्सर करके पुरुष ही बनाते हैं। तुमको ज्ञान के गीत ही गाने चाहिए जिससे शिवबाबा की याद आये।

बाप कहते हैं मुझ अल्फ को याद करो। शिव को कहते हैं बिन्दु। व्यापारी लोग बिन्दु लिखेंगे तो कहेंगे शिव। एक के आगे बिन्दु लिखो तो 10 हो जायेगा फिर बिन्दु लिखो तो 100 हो जाता। फिर बिन्दी लिखो तो 1000 हो जायेगा। तो तुमको भी शिव को याद करना है। जितना शिव को याद करेंगे बिन्दी-बिन्दी लगती जायेगी। तुम आधाकल्प के लिए साहूकार बन जाते हो। वहाँ गरीब होता ही नहीं। सब सुखी रहते हैं। दु:ख का नाम नहीं। बाप की याद से विकर्म विनाश होते जायेंगे। तुम बहुत धनवान बनेंगे। इसको कहा जाता है सच्चे बाप द्वारा सच्ची कमाई। यही साथ चलेगी। मनुष्य सब खाली हाथ जाते हैं। तुमको भरतू हाथ जाना है। बाप को याद करना है। बाप ने समझाया है प्योरिटी होगी तो पीस, प्रासपर्टी मिलेगी। तुम आत्मा पहले प्योर थी फिर इमप्योर बनी हो। संन्यासियों को भी सेमी प्योर कहेंगे। तुम्हारा है फुल संन्यास। तुम जानते हो वह कितना सुख लेते हैं। थोड़ा सुख है फिर तो दु:ख ही है। आगे वे लोग सर्वव्यापी नहीं कहते थे। सर्वव्यापी कहने से गिरते जाते हैं। दुनिया में अनेक प्रकार के मेले लगते हैं क्योंकि आमदनी तो होती है ना। यह भी उन्हों का धन्धा है। कहते हैं धन्धे सबमें धूल, बिगर धंधे नर से नारायण बनने के। यह धंधा कोई विरला करे। बाप का बनकर सब कुछ देह सहित बाप को दे देना है क्योंकि तुम चाहते हो नया शरीर मिले। बाप कहते हैं तुम कृष्णपुरी में जा सकते हो परन्तु आत्मा जब तमोप्रधान से सतोप्रधान बनें। कृष्णपुरी में ऐसे नहीं कहेंगे – हमको पावन बनाओ। यहाँ सभी मनुष्य मात्र पुकारते हैं हे लिबरेटर आओ। इस पाप आत्माओं की दुनिया से हमको लिबरेट करो।

अभी तुम जानते हो बाप आया है हमको अपने साथ ले जाने। वहाँ जाना तो अच्छा है ना। मनुष्य शान्ति चाहते हैं। अब शान्ति किसको कहते हैं? कर्म बिगर तो कोई रह न सके। शान्ति तो है ही शान्तिधाम में। फिर भी शरीर लेकर कर्म तो करना ही है। सतयुग में कर्म करते हुए भी शान्ति रहती है। अशान्ति में मनुष्य को दु:ख होता है इसलिए कहते हैं शान्ति कैसे मिले। अभी तुम बच्चे जानते हो शान्तिधाम तो हमारा घर है। सतयुग में शान्ति भी है, सुख भी है। सब कुछ है। अब वह चाहिए या सिर्फ शान्ति चाहिए। यहाँ तो दु:ख है इसलिए पतित-पावन बाप को भी यहाँ पुकारते हैं। भक्ति करते ही हैं भगवान से मिलने। भक्ति भी पहले अव्यभिचारी फिर व्यभिचारी होती है। व्यभिचारी भक्ति में देखो क्या-क्या करते हैं। सीढ़ी में कितना अच्छा दिखाया हुआ है परन्तु पहले-पहले तो सिद्ध करना चाहिए – भगवान कौन है? श्रीकृष्ण को ऐसा किसने बनाया? आगे जन्म में कौन था? समझाने की बड़ी युक्ति चाहिए। जो अच्छी सर्विस करते हैं उनकी दिल भी शायदी (गवाही) देती है। युनिवर्सिटी में जो अच्छी रीति पढ़ेंगे वह जरूर तीखे जायेंगे। नम्बरवार तो होते ही हैं। कोई डलहेड भी होते हैं। शिवबाबा को आत्मा कहती है – मेरी बुद्धि का ताला खोलो। बाप कहते हैं बुद्धि का ताला खोलने के लिए ही तो आया हूँ। परन्तु तुम्हारे कर्म ऐसे हैं जो ताला खुलता ही नहीं। फिर बाबा क्या करेंगे? बहुत पाप किये हुए हैं। अब बाबा उनको क्या करेंगे? टीचर को अगर स्टूडेंट कहें कि हम कम पढ़ते हैं तो टीचर क्या करेंगे? टीचर कोई कृपा तो नहीं करेंगे! करके उसके लिए एक्स्ट्रा टाइम रखेंगे। वह तो तुमको मना नहीं है। प्रदर्शनी खुली पड़ी है बैठकर प्रैक्टिस करो। भक्ति मार्ग में तो कोई कहेंगे माला फेरो, कोई कहेंगे यह मन्त्र याद करो। यहाँ तो बाप अपना परिचय देते हैं। बाप को याद करना है, जिससे वर्सा मिल जाता है। तो अच्छी तरह से बाप से पूरा वर्सा लेना चाहिए ना। इसमें भी बाप कहते हैं विकार में कभी नहीं जाना। थोड़ी भी विकार की टेस्ट बैठी तो फिर वृद्धि हो जायेगी। सिगरेट आदि की एक बार भी टेस्ट करते हैं तो संग का रंग झट लग जाता है। फिर आदत छोड़ना भी मुश्किल हो जाती। बहाना कितना करते हैं। आदत कोई नहीं पड़नी चाहिए। छी-छी आदतें भी मिटानी हैं। बाप कहते हैं जीते जी शरीर का भान छोड़ मुझे याद करो। देवताओं को भोग हमेशा पवित्र ही लगाया जाता है, तो तुम भी पवित्र भोजन खाओ। आजकल तो सच्चा घी मिलता नहीं, तेल खाते हैं। वहाँ तेल आदि होता नहीं। यहाँ तो डेरी में देखो प्योर घी रखा है, झूठा भी रखा है। दोनों पर लिखा हुआ है – प्योर घी, दाम में फ़र्क पड़ जाता है। अब तुम बच्चों को फूल मुआफिक खिला हुआ हर्षित रहना चाहिए। स्वर्ग में तो नेचुरल ब्युटी रहती है। वहाँ प्रकृति भी सतोप्रधान हो जाती है। लक्ष्मी-नारायण जैसी नैचुरल ब्युटी यहाँ कोई बना न सके। उनको इन आंखों से कोई देख थोड़ेही सकते हैं। हाँ, साक्षात्कार होता है परन्तु साक्षात्कार होने से कोई हूबहू चित्र बना थोड़ेही सकेंगे। हाँ, कोई आर्टिस्ट को साक्षात्कार होता जाए और उस समय बैठ बनाये…. परन्तु है बड़ा मुश्किल। तो तुम बच्चों को बहुत नशा रहना चाहिए। अभी हमको बाबा लेने लिए आया है। बाप से हमको स्वर्ग का वर्सा मिलना है। अभी हमारे 84 जन्म पूरे हुए। ऐसे-ऐसे ख्याल बुद्धि में रहने से खुशी होगी। विकार का जरा भी ख्याल नहीं आना चाहिए। बाप कहते हैं काम महाशत्रु है। द्रोपदी ने भी इसलिए पुकारा है ना। उनको कोई 5 पति नहीं थे। वह तो पुकारती थी कि हमको यह दुशासन नंगन करते हैं, इससे बचाओ। फिर 5 पति कैसे हो सकते हैं। ऐसी बात हो नहीं सकती। घड़ी-घड़ी तुम बच्चों को नई-नई प्वाइंट्स मिलती रहती हैं तो चेंज करना पड़े, कुछ न कुछ चेंज कर अक्षर डाल देना चाहिए।

तुम लिखते हो थोड़े समय के अन्दर हम इस भारत को परिस्तान बनायेंगे। तुम चैलेन्ज करते हो। बाप कहेंगे बच्चों से, सन शोज़ फादर, फादर शोज़ सन। फादर कौन सा? शिव और सालिग्राम, गायन इनका है। शिवबाबा जो समझाते हैं उस पर फालो करो। फालो फादर भी गायन उनका है। लौकिक फादर को फालो करने से तो तुम पतित बन जाते हो। यह तो फालो कराते हैं पावन बनाने के लिए। फर्क है ना। बाप कहते हैं – मीठे बच्चे, फालो कर पवित्र बनो। फालो करने से ही स्वर्ग के मालिक बनेंगे। लौकिक बाप को फालो करने से 63 जन्म तुम सीढ़ी नीचे उतरे हो। अब बाप को फालो कर ऊपर चढ़ना है। बाप के साथ जाना है। बाप कहते हैं यह एक-एक रत्न लाखों रूपयों का है। तुम बाप को जानकर बाप से वर्सा पाते हो। वह तो कहते ब्रह्म में लीन हो जायेंगे। लीन तो होना नहीं है, फिर आयेंगे। बाप रोज़ समझाते रहते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, पहले-पहले सबको बाप का परिचय देना है। पारलौकिक बाप वर्सा देते हैं पावन बनाने का, इसलिए बेहद के बाप को कहते भी हैं पावन बनाओ। वह है पतित-पावन। लौकिक बाप को पतित-पावन नहीं कहेंगे। वह खुद ही पुकारते रहते हैं हे पतित-पावन आओ। तो दो बाप का परिचय सबको देना है। लौकिक बाप कहेंगे शादी कर पतित बनो, पारलौकिक बाप कहते हैं पावन बनो। मेरे को याद करने से तुम पावन बन जायेंगे। एक बाप सबको पावन बनाने वाला है। यह प्वाइंट्स बहुत अच्छी है समझाने की। भिन्न-भिन्न प्रकार की प्वाइंट्स विचार सागर मंथन कर समझाते रहो। यह तुम्हारा ही धंधा हुआ। तुम हो ही पतितों को पावन बनाने वाले। पारलौकिक बाप अभी कहते हैं पावन बनो जबकि विनाश सामने खड़ा है। अब क्या करना चाहिए? जरूर पारलौकिक बाप की मत पर चलना चाहिए ना। यह भी प्रतिज्ञा लिखनी चाहिए प्रदर्शनी में। पारलौकिक फादर को फालो करेंगे। पतित बनना छोड़ेंगे। लिखो बाप से गैरन्टी लेते हैं। सारी बात है प्योरिटी की। तुम बच्चों को दिन-रात खुशी होनी चाहिए – बाप हमको स्वर्ग का वर्सा दे रहे हैं। अल्फ और बे, बादशाही। अभी तुम समझते हो शिव जयन्ती माना ही भारत के स्वर्ग की जयन्ती। गीता ही सर्व शास्त्र मई शिरोमणी है। गीता माता। वर्सा तो बाप से ही मिलेगा। गीता का रचयिता है ही शिवबाबा। पारलौकिक बाप से पावन बनने का वर्सा मिलता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) हम गॉडली स्टूडेन्ट्स हैं, यह सदैव स्मृति में रखना है। कोई भी छी-छी आदत नहीं डालनी है। उन्हें मिटाना है। विकार का ज़रा भी ख्याल नहीं आना चाहिए।

2) जीते जी शरीर का भान भूलकर बाप को याद करना है। भिन्न-भिन्न प्वाइंट्स विचार सागर मंथन कर पतितों को पावन बनाने का धंधा करना है।

वरदान:- बर्थ राईट के नशे द्वारा लक्ष्य और लक्षण को समान बनाने वाले श्रेष्ठ तकदीरवान भव
जैसे लौकिक जन्म में स्थूल सम्पत्ति बर्थ राईट होती है, वैसे ब्राह्मण जन्म में दिव्यगुण रूपी सम्पत्ति, ईश्वरीय सुख और शक्ति बर्थ राईट है। बर्थ राईट का नशा नेचुरल रूप में रहे तो मेहनत करने की आवश्यकता नहीं। इस नशे में रहने से लक्ष्य और लक्षण समान हो जायेंगे। स्वयं को जो हूँ, जैसा हूँ, जिस श्रेष्ठ बाप और परिवार का हूँ वैसा जानते और मानते हुए श्रेष्ठ तकदीरवान बनो।
स्लोगन:- हर कर्म स्व स्थिति में स्थित होकर करो तो सहज ही सफलता के सितारे बन जायेंगे।

TODAY MURLI 10 FEBRUARY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 10 February 2020

10/02/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, give everyone the good news that Bharat is once again becoming heaven that Heavenly God, the Father, has come.
Question: What are the signs of the children who have the happiness of becoming the masters of heaven?
Answer: They never experience any form of sorrow within. They have the intoxication of being important people and that the unlimited Father is making them become like Lakshmi and Narayan. Their behaviour is very royal. They cannot stop sharing this good news with others.

Om shanti. The Father explains and you children know that this message has to reach Bharat in particular and the whole world in general. All of you are messengers who give everyone the message of happiness that Bharat is once again becoming heaven that heaven is once again being established. The Father, the One called Heavenly God, the Father, has come to Bharat in order to carry out the establishment of heaven. You children have been given the direction to give this good news clearly to all the people of Bharat. Everyone is concerned about their own religion. You are only concerned about your religion. You relate the good news that the sun-dynasty deity religion of Bharat is being established, that is, Bharat is once again becoming heaven. You should have the happiness inside that you are becoming the masters of the world. Those who have this happiness inside them won’t have any type of sorrow. You children know that there are difficulties in establishing the new world. There is so much violence against innocent ones. You children should always remain aware that you have to give this good news to the people of Bharat, just as Baba had leaflets printed that said: Brothers and sisters, come inside and listen to the good news. Throughout the whole day, you should be concerned about how you can give everyone the message that the unlimited Father has come to give them their unlimited inheritance. Seeing the picture of Lakshmi and Narayan, you should remain cheerful throughout the day. You are very important people; your behaviour should therefore not be uncivilized in any way. You know that you used to be even worse than monkeys. Baba is now making you become like them (Deities) and so you should have so much happiness. However, the wonder is that neither do children have the happiness of this nor do they relate this good news to everyone with that much enthusiasm. The Father has made you into messengers. Therefore, let this message be heard by all. The people of Bharat don’t know when their original eternal deity religion was created or when it disappeared. There are just the images left now. All other religions exist now but the original eternal deity religion no longer exists. These images are only in Bharat. Establishment takes place through Brahma. Therefore, you should give everyone this good news and you will also remain happy inside. Give this good news at the exhibitions: Come and claim your inheritance from the unlimited Father. Lakshmi and Narayan were the masters of heaven. Where did they go? No one knows. This is why it is said that their faces are like those of human beings but their characters are those of monkeys. Your faces are like those of human beings and your characters are becoming like those of the deities. You know that you are once again becoming full of all virtues. Therefore, you also have to inspire others to make this effort. Exhibitions are a very good way of doing service. Those who have no household bonds, for instance, those who are retired and widows and kumaris, have many chances to do service. You must become engaged in doing service. To get married at this time is to ruin yourself completely. To remain unmarried is to be in a good condition. The Father says: This land of death, the impure world, is now going to be destroyed. If you want to go to the pure world, occupy yourself in this service. You should have exhibition after exhibition. Serviceable children are very keen to do service. Some ask Baba: Should I leave my job? Baba looks at you and sees if you are worthy. He then gives you permission to give up work and do this service. You have to give this good news to everyone: “The Father says: Come and claim your fortune of the kingdom. You claimed your fortune of the kingdom 5000 years ago. Now come and claim it once again. Simply follow My directions.” You should check yourself to see what defects you have. You can do a great deal of service using these badges. This badge is first class. Although it is only worth a few pennies, you can use it and claim a high status. People spend so much money on books etc. for their studies. Here, there is no question of books etc. You simply have to whisper the message of the Father’s true mantra in everyone’s ear. Everyone else only gives false mantras. There is no value in false things. Diamonds, not stones, have value. The praise, “Each version is worth hundreds of thousands”, applies to this knowledge. The Father says that there are many scriptures. You have been studying them for half a cycle, but you didn’t attain anything from doing that. You are now being given the jewels of knowledge. Those people are called authorities of the scriptures, whereas the Father is the Ocean of Knowledge. Each version of His is worth hundreds of thousands of rupees. It is through them that you become the masters of the world; you become multimillionaires. There is great praise of this knowledge. You became poverty-stricken from reading those scriptures etc. You must now donate these jewels of knowledge. The Father explains many easy methods. Tell them: When you forgot your own religion, you started to wander around outside. What happened to the original eternal deity religion of you people of Bharat? By speaking of 8.4 million species, nothing sits in their intellects. The Father now explains: You belonged to the original eternal deity religion. Then you took 84 births. Lakshmi and Narayan also belonged to the original eternal deity religion. They too became corrupt in their religion and their action. All other religions exist but this original eternal deity religion does not exist. When this religion was in existence, there were no other religions. This is so easy! This father, this Dada, is Prajapita Brahma and so there must definitely also be many of you Brahma Kumars and Kumaris. The Father comes and liberates you from Ravan’s jail, “The Garden of Sorrow”. No one understands the meaning of “Garden of Sorrow”. The Father says: This is the world of sorrow, whereas that is the world of happiness. Continue to remember your world of peace and your world of happiness. They speak of the incorporeal world. These English words are very good. The English language has continued to be spoken here. There are now so many different languages. Human beings don’t understand anything. There is now a child institution called the Nirgun Institution. Nirgun means “without virtues”. They simply created an institution like that. They have named it “nirgun” without understanding its meaning. There are many institutions. There used to be only the institution of the original eternal deity religion in Bharat; there was no other religion at that time. However, instead of 5000 years, people say that the duration of a cycle is hundreds of thousands of years. You have to remove them from the darkness of ignorance. You have to do service. Although this drama is predestined, when you eat from Shiv Baba’s yagya (sacrificial fire), but don’t do any service, there will be punishment experienced through Dharamraj who is Baba’s right hand. Therefore, you are being cautioned. It is very easy to do service. Explain to everyone very lovingly. The Father receives news when children go to a certain temple or to the banks of the Ganges. Devotees wake up early in the morning and go to the temples. It is easy to explain to religious-minded people. It is best to do service in the Lakshmi and Narayan temples. Achcha, go there (temple) and explain: Shiv Baba is the One who made them (Lakshmi and Narayan) like that. This forest is about to be set on fire and everything will be destroyed, and your parts will also come to an end. You will then go and take birth in a royal family. As you go further, you will come to know how you are to receive the kingdom. You will not be told beforehand what is in the drama. You will come to know what status you will claim. Those who give many donations and perform a great deal of charity will take birth in a royal family. Kings have a lot of wealth. You now donate these imperishable jewels of knowledge. This knowledge is for the people of Bharat. Tell them: The original eternal deity religion is now being established. The Father, the Purifier, has come. The Father says: Remember Me! This is so easy! However, their intellects are so tamopradhan that they are unable to imbibe anything at all. They are influenced by the vices. There are many varieties of animal. Some have a lot of anger. The nature of each species of animal is different. They all have different natures of causing sorrow. The foremost vice that causes sorrow is the sword of lust. Ravan’s kingdom is the kingdom of vice. The Father explains to you every day. There are many good daughters who are imprisoned. They are called those in bondage. In fact, if they had the enlightenment of knowledge, no one could keep them in bondage. However, they still have many bonds of attachment. Even sannyasis remember their homes. It is very difficult to break these bonds. You now have to forget your friends and relatives etc. because this old world is going to be destroyed. You even have to forget your own bodies and consider yourselves to be souls and remember Baba. You must become pure. You have to complete your part of 84 births. No one can return home before that. This play is now coming to an end and so you children should have a great deal of happiness that you are now about to return home. Your parts are now ending, and so you should have the eagerness to return home. Remember Baba a great deal. Only by having this remembrance will your sins be absolved. You will first return home and then go to the land of happiness. Some want to be liberated from this world quickly, but where would they go? First of all, you have to make effort to claim a high status. First, feel your own pulse and ask yourself to what extent you have become worthy and what you will do when you go to heaven. You first of all have to become worthy. You have to become the Father’s worthy children. Lakshmi and Narayan are the worthiest children of all. Even God looks and says of some children: This child is very good; he is worthy of doing service. For some, He says: This one is unworthy; he is destroying his own status for nothing. The Father only speaks the truth. They call out: O Purifier, come! Come and make us into the masters of the land of happiness. They ask for unlimited happiness. Then the Father says: At least become worthy of doing a little service! Give this good news to My devotees: Shiv Baba is now giving the inheritance. He says: Remember Me and become pure and you will become the masters of the pure world. This old world is to be set ablaze. When you see your aim and objective in front of you, great happiness should be experienced. We have to become like them. You should keep this in your intellects throughout the day and you won’t then behave in any kind of devilish way. We are becoming like them. Therefore, how can we behave badly? However, if it’s not in someone’s fortune he doesn’t think of such methods; he does not earn an income. You can earn a very good income. Even whilst sitting at home, you all have to earn an income and inspire others to do the same. Whilst sitting at home you can spin the discus of self-realisation and also enable others to spin the discus of self-realisation. To the extent that you make others become this, accordingly you will claim a high status. Your aim and objective is to become like Lakshmi and Narayan. You all raise your hands when you are asked if you want to become part of the sun dynasty. These pictures can be very useful at the exhibitions. You can use them to explain. We only listen to that which the highest-on-high Father tells us. We prefer not to listen to the things of the path of devotion. These pictures are very good. You can do a lot of service with them. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Check your own pulse and see to what extent you have become worthy. Become worthy and give the proof of the serviceyou do. Become free from all bonds by being enlightened with knowledge.
  2. Follow the directions of the one Father and remove any defects from within you. Renounce any nature of causing sorrow and become bestowers of happiness. Donate the jewels of knowledge.
Blessing: May you always be powerful and make the elevated task practical while knowing that its destiny is fixed.
Although the destiny of the elevated new world is fixed, the children who have received the blessing of being powerful become instruments to carry out their task on the basis of the philosophy of karma and its fruit, the effort and it’s reward and of being instruments and having humility. People of the world are unable to see any hope, whereas you say that this task has been carried out many times and that it is being accomplished even now. This is because, in front of the practical proof of self-transformation, there is no need for any other type of proof. Along with that, God’s task is always successful.
Slogan: The elevated aim of saying little and do more will make you great.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 10 FEBRUARY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 February 2020

10-02-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – सबको यह खुशखबरी सुनाओ कि भारत अब फिर से स्वर्ग बन रहा है, हेविनली गॉड फादर आये हुए हैं”
प्रश्नः- जिन बच्चों को स्वर्ग का मालिक बनने की खुशी है उनकी निशानी क्या होगी?
उत्तर:- उनके अन्दर किसी भी प्रकार का दु:ख नहीं आ सकता। उन्हें नशा रहेगा कि हम तो बहुत बड़े आदमी हैं, हमें बेहद का बाप ऐसा (लक्ष्मी-नारायण) बनाते हैं। उनकी चलन बहुत रॉयल होगी। वह दूसरों को खुशखबरी सुनाने के सिवाए रह नहीं सकते।

ओम् शान्ति। बाप समझाते हैं और बच्चे जानते हैं कि भारत खास और दुनिया आम को यह सन्देश पहुँचाना है। तुम सब सन्देशी हो, बहुत खुशी का सन्देश सबको देना है कि भारत अब फिर से स्वर्ग बन रहा है अथवा स्वर्ग की स्थापना हो रही है। भारत में बाप जिनको हेविनली गॉड फादर कहते हैं, वही स्थापना करने आये हैं। तुम बच्चों को डायरेक्शन है कि यह खुशखबरी सबको अच्छी रीति सुनाओ। हरेक को अपने धर्म की तात रहती है। तुमको भी तात है, तुम खुशखबरी सुनाते हो, भारत के सूर्यवंशी देवी-देवता धर्म की स्थापना हो रही है अर्थात् भारत फिर से स्वर्ग बन रहा है। यह खुशी अन्दर में रहनी चाहिए-हम अभी स्वर्ग के मालिक बन रहे हैं। जिनको यह खुशी अन्दर में है उनको दु:ख तो कोई भी किस्म का हो नहीं सकता। यह तो बच्चे जानते हैं नई दुनिया स्थापन होने में तकलीफ भी होती है। अबलाओं पर कितने अत्याचार होते हैं। बच्चों को यह सदैव स्मृति में रहना चाहिए-हम भारत को बेहद की खुशखबरी सुनाते हैं। जैसे बाबा ने पर्चे छपवाये हैं-बहनों-भाइयों आकर यह खुशखबरी सुनो। सारा दिन ख्यालात चलते हैं कैसे सबको यह सन्देश सुनायें। बेहद का बाप बेहद का वर्सा देने आये हैं। इन लक्ष्मी-नारायण के चित्र को देखकर तो सारा दिन हर्षित रहना चाहिए। तुम तो बहुत बड़े आदमी हो इसलिए तुम्हारी कोई भी जंगली चलन नहीं होनी चाहिए। तुम जानते हो हम बन्दर से भी बदतर थे। अभी बाबा हमको ऐसा (देवी-देवता) बनाते हैं। तो कितनी खुशी होनी चाहिए। परन्तु वन्डर है बच्चों को वह खुशी रहती नहीं है। न उस उमंग से सबको खुशखबरी सुनाते हैं। बाप ने तुमको मैसेन्जर बनाया है। सबके कान पर यह मैसेज देते रहो। भारतवासियों को यह पता ही नहीं है कि हमारा आदि सनातन देवी-देवता धर्म कब रचा गया? फिर कहाँ गया? अभी तो सिर्फ चित्र हैं। और सभी धर्म हैं सिर्फ आदि सनातन देवी-देवता धर्म है नहीं। भारत में ही चित्र हैं। ब्रह्मा द्वारा स्थापना करते हैं। तो तुम सबको यह खुशखबरी सुनाओ तो तुमको भी अन्दर में खुशी रहेगी। प्रदर्शनी में तुम यह खुशखबरी सुनाते हो ना। बेहद के बाप से आकर स्वर्ग का वर्सा लो। यह लक्ष्मी-नारायण स्वर्ग के मालिक हैं ना। फिर वह कहाँ गये? यह कोई भी समझते नहीं इसलिए कहा जाता है-सूरत मनुष्य की, सीरत बन्दर मिसल है। अभी तुम्हारी शक्ल मनुष्य की है, सीरत देवताओं जैसी बन रही है। तुम जानते हो हम फिर से सर्वगुण सम्पन्न बनते हैं। फिर औरों को भी यह पुरूषार्थ कराना है। प्रदर्शनी की सर्विस तो बहुत अच्छी है। जिनको गृहस्थ व्यवहार का बन्धन नहीं, वानप्रस्थी हैं अथवा विधवायें हैं, कुमारियाँ हैं उनको तो सर्विस का बहुत चांस है। सर्विस में लग जाना चाहिए। इस समय शादी करना बरबादी करना है, शादी न करना आबादी है। बाप कहते हैं यह मृत्युलोक पतित दुनिया विनाश हो रही है। तुमको पावन दुनिया में चलना है तो इस सर्विस में लग जाना चाहिए। प्रदर्शनी पिछाड़ी प्रदर्शनी करनी चाहिए। सर्विसएबुल बच्चे जो हैं, उन्हें सर्विस का शौक अच्छा है। बाबा से कोई-कोई पूछते हैं हम सर्विस छोड़ें? बाबा देखते हैं-लायक हैं तो छुट्टी देते हैं, भल सर्विस करो। ऐसी खुशखबरी सबको सुनानी है। बाप कहते हैं अपना राज्य-भाग्य आकर लो। तुमने 5 हज़ार वर्ष पहले राज्य-भाग्य लिया था, अब फिर से लो। सिर्फ मेरी मत पर चलो।

देखना चाहिए-हमारे में कौन-से अवगुण हैं? तुम इन बैजेस पर तो बहुत सर्विस कर सकते हो, यह फर्स्ट-क्लास चीज़ है। भल पाई-पैसे की चीज़ है परन्तु इनसे कितना ऊंच पद पा सकते हैं। मनुष्य पढ़ने लिए किताबों आदि पर कितना खर्चा करते हैं। यहाँ किताब आदि की तो बात नहीं। सिर्फ सबके कानों में सन्देश देना है, यह है बाप का सच्चा मंत्र। बाकी तो सब झूठे मंत्र देते रहते हैं। झूठी चीज़ की वैल्यु थोड़ेही होती है। वैल्यु हीरों की होती है, न कि पत्थरों की। यह जो गायन है एक-एक वरशन्स लाखों की मिलकियत है, वह इस ज्ञान के लिए कहा जाता है। बाप कहते हैं शास्त्र तो ढेर के ढेर हैं। तुम आधाकल्प पढ़ते आये हो, उससे तो कुछ मिला नहीं। अभी तुमको ज्ञान रत्न देते हैं। वह हैं शास्त्रों की अथॉरिटी। बाप तो ज्ञान का सागर है। इनका एक-एक वरशन्स लाखों-करोड़ों रूपयों का है। तुम विश्व के मालिक बनते हो। पद्मपति जाकर बनते हो। इस ज्ञान की ही महिमा है। वह शास्त्र आदि पढ़ते तो कंगाल बन पड़े हो। तो अब इन ज्ञान रत्नों का दान भी करना है। बाप बहुत सहज युक्तियाँ समझाते हैं। बोलो, अपने धर्म को भूल तुम बाहर भटकते रहते हो। तुम भारतवासियों का आदि सनातन देवी-देवता धर्म था, वह धर्म कहाँ गया? 84 लाख योनियाँ कहने से कुछ भी बात बुद्धि में बैठती नहीं। अभी बाप समझाते हैं तुम आदि सनातन देवी-देवता धर्म के थे फिर 84 जन्म लिए हैं। यह लक्ष्मी-नारायण आदि सनातन देवी-देवता धर्म वाले हैं ना। अभी धर्म भ्रष्ट, कर्म भ्रष्ट बन गये हैं। और सब धर्म हैं, यह आदि सनातन धर्म है नहीं। जब यह धर्म था तो और धर्म नहीं थे। कितना सहज है। यह बाप, यह दादा। प्रजापिता ब्रह्मा है तो जरूर बी.के. ढेर के ढेर होंगे ना। बाप आकर रावण की जेल से, शोक वाटिका से छुड़ाते हैं। शोक वाटिका का अर्थ भी कोई समझते नहीं हैं। बाप कहते हैं यह शोक की, दु:ख की दुनिया है। वह है सुख की दुनिया। तुम अपनी शान्ति की दुनिया और सुख की दुनिया को याद करते रहो। इनकारपोरियल वर्ल्ड कहते हैं ना। अंग्रेजी अक्षर बहुत अच्छे हैं। अंग्रेजी तो चलती ही आती है। अभी तो अनेक भाषायें हो गई हैं। मनुष्य कुछ भी समझते नहीं-अब कहते हैं निर्गुण बाल संस्था……. निर्गुण अर्थात् कोई गुण नहीं। ऐसे ही संस्था बना दी है। निर्गुण का भी अर्थ नहीं समझते। बिगर अर्थ नाम रख देते हैं। अथाह संस्थायें हैं। भारत में एक ही आदि सनातन देवी-देवता धर्म की संस्था थी, और कोई धर्म नहीं था। परन्तु मनुष्यों ने 5000 वर्ष के बदले कल्प की आयु लाखों वर्ष लिख दी है। तो तुम्हें सबको इस अज्ञान अंधकार से निकालना है। सर्विस करनी है। भल यह ड्रामा तो बना-बनाया है परन्तु शिवबाबा के यज्ञ से खायेंगे, पियेंगे और सर्विस कुछ भी नहीं करेंगे तो धर्मराज जो राईट हैण्ड है, वह जरूर सज़ा देंगे इसलिए सावधानी दी जाती है। सर्विस करना तो बहुत सहज है। प्रेम से कोई को भी समझाते रहो। बाप के पास कोई-कोई का समाचार आता है कि हम मन्दिर में गये, गंगा घाट पर गये। सवेरे उठकर मन्दिर में जाते हैं, रिलीजस माइन्डेड को समझाना सहज होगा। सबसे अच्छा है लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में सर्विस करना। अच्छा, फिर उन्हों को ऐसा बनाने वाला शिवबाबा है, वहाँ जाकर समझाओ। जंगल को आग लग जायेगी, यह सब खत्म हो जायेंगे फिर तुम्हारा भी पार्ट पूरा होता है। तुम जाकर राजाई कुल में जन्म लेते हो। राजाई कैसे मिलनी है, सो आगे चल पता पड़ेगा। ड्रामा में पहले से थोड़ेही सुना देंगे। तुम जान लेंगे हम क्या पद पायेंगे। जास्ती दान-पुण्य करने वाले राजाई में आते हैं ना। राजाओं के पास धन बहुत रहता है। अब तुम अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान करते हो।

भारतवासियों के लिए ही यह ज्ञान है। बोलो, आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना हो रही है, पतित से पावन बनाने वाला बाप आया है। बाप कहते हैं मुझे याद करो, कितना सहज है। परन्तु इतनी तमोप्रधान बुद्धि हैं जो कुछ भी धारणा होती नहीं। विकारों की प्रवेशता है। जानवर भी किस्म-किस्म के होते हैं, कोई में क्रोध बहुत होता है, हर एक जानवर का स्वभाव अलग होता है। किस्म-किस्म के स्वभाव होते हैं दु:ख देने के। सबसे पहले दु:ख देने का विकार है काम कटारी चलाना। रावण राज्य में है ही इन विकारों का राज्य। बाप तो रोज़ समझाते रहते हैं, कितनी अच्छी-अच्छी बच्चियाँ हैं, बिचारी कैद में हैं, जिनको बांधेली कहते हैं। वास्तव में उनमें अगर ज्ञान की पराकाष्ठा हो जाए तो फिर कोई भी उनको पकड़ न सके। परन्तु मोह की रग बहुत है। सन्यासियों को भी घरबार याद पड़ता है, बड़ा मुश्किल से वह रग टूटती है। अभी तुमको तो मित्र-सम्बन्धियों आदि सबको भूलना ही है क्योंकि यह पुरानी दुनिया ही खत्म होने वाली है। इस शरीर को भी भूल जाना है। अपने को आत्मा समझ बाबा को याद करना है। पवित्र बनना है। 84 जन्मों का पार्ट तो बजाना ही है। बीच में तो कोई वापस जा न सके। अभी नाटक पूरा होता है। तुम बच्चों को खुशी बहुत होनी चाहिए। अभी हमको जाना है अपने घर। पार्ट पूरा हुआ, उत्कण्ठा होनी चाहिए-बाबा को बहुत याद करें। याद से विकर्म विनाश होंगे। घर जाए फिर सुखधाम में आयेंगे। कई समझते हैं जल्दी इस दुनिया से छूटें। परन्तु जायेंगे कहाँ? पहले तो ऊंच पद पाने लिए मेहनत करनी चाहिए ना। पहले अपनी नब्ज देखनी है-हम कहाँ तक लायक बने हैं? स्वर्ग में जाए क्या करेंगे? पहले तो लायक बनना पड़े ना। बाप के सपूत बच्चे बनना पड़े। यह लक्ष्मी-नारायण सपूत लायक हैं ना। बच्चों को देखकर भगवान भी कहते हैं यह बड़े अच्छे हैं, लायक हैं सर्विस करने के। कोई के लिए तो कहेंगे यह लायक नहीं है। मुफ्त अपना पद ही भ्रष्ट कर लेते हैं। बाप तो सच कहते हैं ना। पुकारते भी हैं पतित-पावन आओ, आकर सुखधाम का मालिक बनाओ। सुख घनेरे मांगते हैं ना। तो बाप कहते हैं कुछ तो सर्विस करने लायक बनो। जो मेरे भक्त हैं, उनको यह खुशखबरी सुनाओ कि अभी शिवबाबा वर्सा दे रहे हैं। वह कहते हैं मुझे याद करो और पवित्र बनो तो पवित्र दुनिया के मालिक बन जायेंगे। इस पुरानी दुनिया को आग लग रही है। सामने एम ऑब्जेक्ट देखने से बड़ी खुशी रहती है-हमको यह बनना है। सारा दिन बुद्धि में यही याद रहे तो कभी भी कोई शैतानी काम न हो। हम यह बन रहे हैं फिर ऐसा उल्टा काम कैसे कर सकते हैं? परन्तु किसकी तकदीर में नहीं है तो ऐसी-ऐसी युक्तियाँ भी रचते नहीं, अपनी कमाई नहीं करते। कमाई कितनी अच्छी है। घर बैठे सभी को अपनी कमाई करनी है और फिर औरों को करानी है। घर बैठे यह स्वदर्शन चक्र फिराओ, औरों को भी स्वदर्शन चक्रधारी बनाना है। जितना बहुतों को बनायेंगे उतना तुम्हारा मर्तबा ऊंचा होगा। इन लक्ष्मी-नारायण जैसे बन सकते, एम ऑबजेक्ट ही यह है। हाथ भी सब सूर्यवंशी बनने में ही उठाते हैं। यह चित्र भी प्रदर्शनी में बहुत काम आ सकते हैं। इन पर समझाना है। हमको ऊंच ते ऊंच बाप जो सुनाते हैं, वही हम सुनते हैं। भक्ति मार्ग की बातें सुनना हम पसन्द नहीं करते। यह चित्र तो बहुत अच्छी चीज़ है। इन पर तुम सर्विस बहुत कर सकते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपनी नब्ज देखनी है कि हम कहाँ तक लायक बने हैं? लायक बन सर्विस का सबूत देना है। ज्ञान की पराकाष्ठा से बंधनमुक्त बनना है।

2) एक बाप की मत पर चल अवगुणों को अन्दर से निकालना है। दु:खदाई स्वभाव को छोड़ सुखदाई बनना है। ज्ञान रत्नों का दान करना है।

वरदान:- अटल भावी को जानते हुए भी श्रेष्ठ कार्य को प्रत्यक्ष रूप देने वाले सदा समर्थ भव
नया श्रेष्ठ विश्व बनने की भावी अटल होते हुए भी समर्थ भव के वरदानी बच्चे सिर्फ कर्म और फल के, पुरूषार्थ और प्रालब्ध के, निमित्त और निर्माण के कर्म फिलॉसाफी अनुसार निमित्त बन कार्य करते हैं। दुनिया वालों को उम्मींद नहीं दिखाई देती। और आप कहते हो यह कार्य अनेक बार हुआ है, अभी भी हुआ ही पड़ा है क्योंकि स्व परिवर्तन के प्रत्यक्ष प्रमाण के आगे और कोई प्रमाण की आवश्यकता ही नहीं। साथ-साथ परमात्म कार्य सदा सफल है ही।
स्लोगन:- कहना कम, करना ज्यादा-यह श्रेष्ठ लक्ष्य महान बना देगा।

TODAY MURLI 10 FEBRUARY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 10 February 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 9 February 2019 :- Click Here

10/02/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
19/04/84

The qualifications of souls w ho have loving feelings and are knowledgeable .

Today, BapDada was looking at all the children to see which children have come to the Father with their feelings of devotional love and which children have come to the Father, having recognised Him, in order to receive attainment from Him, that is, with the intention of becoming elevated. Both types of children have reached the Father’s home. Those with loving feelings receive the fruit of their love, according to their capacity, in the form of the fruit of happiness, peace, knowledge and love and become happy with just that much. Nevertheless, there is a difference in their feelings of devotion and their feelings for the Father and the family after receiving the Father’s introduction. The devotional feelings are feelings of blind faith: it is the feeling of meeting indirect ly, it is the feeling of temporary selfish love. The loving feeling that children have at present on the basis of knowledge is much more elevated than the feeling of the path of devotion because it is not indirect for deity souls, but it is direct love for the Father. There is recognition, but there is a difference between recognition just on the basis of devotional love and recognition on the basis of knowledge. To have recognition through knowledge means to have the method of knowing the Father as He is and what He is, and knowing yourself as you are and what you are, that is, to become equal to the Father. You all know Him, but you have to understand the difference between knowing Him on the basis of devotional feelings and on the basis of knowledge. Therefore, today, BapDada was seeing the loving feelings of many children. Even by recognising the Father through your loving feelings, you attain the fruit anyway. However, there is a difference between claiming a right to the full inheritance and just claiming a right to the inheritance. The fortune of heaven and the right to liberation-in-life are received by both those with loving feelings and those with knowledge. The only difference is in the attainment of the status. Both say “Baba” with happiness and they therefore definitely claim the inheritance as the fruit of saying “Baba” and understanding Baba. All become worthy of claiming a right to liberation-in-life, but there is so much difference between the eight jewels, the 108 victorious jewels, the 16,000 and then the 900,000. There is the rosary of 16,000 and also one of 108. In the 108, there are also the eight special ones. All become beads of the rosary. Both types would be called beads. Even the beads of the rosary of 16,000 would say in happiness and intoxication: My Baba and my kingdom. The difference is in whether you claim a right to the royal throne or a royal status, a right to the royal family or a right to being in connection with the royal family.

Both the souls with devotional feelings and the knowledgeable souls have intoxication. They both say very good things about love for God. Because of being the embodiments of love, they even forget all consciousness of the world. They even sing very good songs of love: “Mine is the one Father alone.” However, they are not embodiments of power. You will see them experiencing a lot of happiness, but if a small obstacle of Maya comes, the souls with loving feelings will very quickly become afraid because they lack the power of knowledge. One minute, you will see them very happy singing songs of the Father and the next minute, a little attack from Maya will change their songs of happiness into, “What can I do? How can I do this? What will happen? How will it happen?” They are no less when it comes to singing such songs of “What? Why, etc”. However, knowledgeable souls, because they constantly consider themselves to be masteralmighty authority souls with the Father, are able to overcome Maya. They don’t sing songs of “Why? What?” The souls with loving feelings continue to move along simply with the power of love. They don’t have any power to face Maya. Knowledgeable souls are able to experience all powers with the aim of becoming equal and are able to face Maya. Now, ask yourself: Who am I? Am I a soul with loving feelings or am I a knowledgeable soul? The Father is still pleased to see the souls with loving feelings. They have at least claimed a right by saying “My Baba!” By claiming a right, they have become worthy. Whether or not you take the full amount, you can still fill your aprons according to your efforts to whatever extent you want, because when you say “My Baba” you have applied the key. There isn’t any other key because BapDada is the Ocean. He is limitless, unlimited. Those who are take become tired of taking. The Bestower never becomes tired, what effort does He need to make? He gives you drishti and thereby gives all rights. Even those who are taking don’t have to make effort, but because of carelessness, they lose it all. Then, after losing it through their own weakness, they have to make effort to regain it. Because of making effort losing and gaining, gaining and losing, they become tired. If they remain cautious and clever, they become embodiments of constant attainment. For instance, in the golden age, maids always remain with you to serve you. In the same way, all the powers and virtues constantly fulfil their responsibility as companions for such elevated, knowledgeable souls who are equal to the Father. Whatever power you invoke, whatever virtue you invoke, it becomes present in front of you as”Ji hazir” (yes, my Lord). Those who are such self-sovereigns claim a right to the kingdom of the world. So you wouldn’t find this hard work, would you? You experience yourselves to be constantly victorious with every power and every virtue. Just as when you perform a drama showing how Ravan challenges his companions and how Brahmin souls, souls who are masters of the self, challenge their powers and virtues, have you become such masters of the self in the same way? Or is it that you are unable to use these powers at the time of need? No one would obey a weak king. That king would have to obey the people. A brave king makes everyone work under his orders and attains this kingdom. Therefore, to make easy things difficult and then become tired is a sign of your carelessness. What would you say to being called a king whom no one obeys? Some say: I have understood that I should have the power to tolerate, but I remembered it too late. At that time, even if you do think about it, you are unable to use it. This means that you called it at that time but that it arrived the next day. So, is this obeying your orders? To say “It just happened” means your powers are not under your orders. What would you say to a server who didn’t serve at the right time? Therefore, constantly be a master of the self and use all the powers and virtues for yourself and everyone in service. Do you understand? Don’t just be those who have loving feelings but become powerful. Achcha. You are happy to see a gathering of variet ies of souls, are you not? Those of Madhuban see so many types of gathering. So many varieties of group come. BapDada is also pleased to see the variety in the flower garden. Welcome! You are seeing the memorial that is remembered as the procession of Shiva. Saying, “Baba, Baba”, you have all come here. You have at least reached Madhuban. You now have to reach your final destination. Achcha.

To the victorious souls who always claim their elevated rights, to the powerful souls who serve with all their rights and all their powers, to the rightful souls who have a right to the royal throne, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Avyakt BapDada meeting different groups

T he Punjab zone: All of you from the Punjab zone are mahavirs, are you not? You are not those who become afraid. You are elevated, knowledgeable souls who are equal to the Father, are you not? You don’t fear anything, do you? The biggest fear is of death. All of you have already died. Why should those who are already dead be afraid of death? There is fear of death when you think, “I still have to this. I should now do this.” When you are unable to do it, you become afraid of death. All of you have completed your task and are now ever ready. You are ever ready to shed your old costumes, are you not? Therefore, you are not afraid. In fact, you are those who make fearful souls powerful and you are children of the Bestower of Happiness and give happiness at a time of sorrow to souls who are caught up in fear. For instance, when you have a night light in the dark, there is light everywhere. In the same way, you are the elevated souls who give happiness at a time of sorrow. So, do you always have the elevated feeling of giving happiness? You constantly have to give happiness and peace. You are bestowers of peace, children of the Bestower of Peace. So, who are bestowers of peace? It is not the Father alone, but all of you are those too. Therefore, you are the bestowers of peace who give peace. You are performing the task of giving peace. People ask what service you do. Therefore, tell all of them that you are especially performing the task that is essential at this time. Achcha. People give clothes, people give food, but the most essential thing to give is peace. So, we are giving everyone what is essential for them. Therefore, what greater service is there than this? When your mind is peaceful, wealth is also useful. If the mind is not peaceful, then even the power of wealth causes you distress. Now spread such a wave of powerful peace that everyone experiences that, out of everywhere in the whole country this is the place of peace. Let them hear from others that by coming here for even a few moments, they can experience a lot of peace. Let this sound spread everywhere. Spread the sound that this service place is the corner for peace. Let this sound spread everywhere. No matter how peaceless a soul may be, for instance, when a person is ill he goes to hospital, in the same way, let them feel that at this time of peacelessness that they have to go to a place of peace. Spread such a wave. How will this spread? For this, invite one or two souls and give them an experience. From one, it will expand to two, and so on… Especially call those who are peaceless and give them an experience of peace. Whoever comes into contact with you, give them the message: Experience peace! Those from Punjab should especially do this service. You now have a chance to make the sound be heard loudly. Souls are now wandering around and they need a place. They don’t know where that place is and so they are searching for it. They have been wandering from one place to another, having realised that that is not the right place. Are you not easily able to give a place to such wandering souls? Now do this service. Even if there is a curfew or whatever else, you do come into contact with others, do you not? Give an experience to those who are in contact with you. Then those souls will spread the sound. Conduct a yoga camp for them for even one or two hours. If they experience even a little bit of peace, they will become very happy and thank you. When there is the aim of doing something, you also find a way to do it. Therefore now, demonstrate this and glorify the name in this way. You can soften the land of Punjab to the extent that it is hard at present.

Do you always experience yourselves to be angels who are double light? The final form of the confluence age is that of an angel. The attainment of Brahmin life is an angelic life. An angel is one who has no relationship with bodies or bodily relations. Have you ended all relationships with your body and bodily relatives or is there still a slight relationship? If there are even subtle strings of the slightest attachment, you won’t be able to fly up above, you will come down. Therefore, an angel is one who has no old relationships. Since your life is new, everything would be new. Everything will be new – new thoughts, new relationships, new occupation. No awareness of your old life can now come even in your dreams. If you become even the slightest bit body conscious it means there is also a slight relationship. If there is no relationship, your intellect cannot go there. There are so many souls in the world but you don’t remember them, do you because you don’t have any connection with them? You only remember those with whom you have a relationship. So, to become body conscious means that there is a bodily relationship. If there is the slightest attachment to the body, how would you be able to fly? No matter how high you throw something heavy, it will still come down. So an angel means one who is light, without a burden. To die alive means to become free from burden. If even a little bit is left, then quickly end that. Otherwise, when the whistle of time is blown, everyone will begin to fly but those with a burden will remain down below. Those with a burden will become observers of those who are flying.

Therefore, check that no subtle strings still remain. Do you understand? So remember the special blessing of today: You are angelic souls who are free from bondage. You are souls who are free from bondage. Never forget the word “angelic”. By considering yourselves to be angels, you will fly. If you remember this blessing from the Bestower of Blessings, you will always remain prosperous.

Do you always consider yourselves to be messengers who give the message of peace? The task of Brahmin life is to give a message. You never forget this task, do you? Check every day to what extent you have performed the elevated task of elevated souls. To how many have you given the message? To how many did you donate peace? You are great donors, bestowers of blessings who give the message. How many titles do you have? In today’s world, even if someone has the biggest title, he is junior to you. There, it is souls who give titles, but here, the Father is giving you children titles. So, keep all your different titles in your awareness and constantly remain in that happiness and in that service. By having the awareness of the title, you will automatically remember service.

Blessing: May you be a soul who has all rights and transforms any situation out of your control with the power of concentration.
A Brahmin, that is, a soul who has all rights, cannot be controlled by anyone else. Such a soul cannot be controlled by his weak nature or sanskars because nature – “swa-bhav” – means to have soul-conscious feelings for the self and others. Therefore, you cannot be controlled by a weak nature. Your awareness of your original and eternal sanskars will easily transform your weak sanskars. The power of concentration will easily transform an external situation and enable you to become set on the seat in the stage of a master.
Slogan: Anger is a very great enemy for a knowledgeable soul.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 10 FEBRUARY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 February 2019

To Read Murli 9 February 2019 :- Click Here
10-02-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 19-04-84 मधुबन

भावुक आत्मा तथा ज्ञानी आत्मा के लक्षण

आज बापदादा सभी बच्चों को देख रहे हैं कि कौन से बच्चे भावना से बाप के पास पहुँचे हैं, कौन से बच्चे पहचान कर पाने अर्थात् बनने के लिए पहुँचे हैं। दोनों प्रकार के बच्चे बाप के घर में पहुँचे। भावना वाले भावना का फल यथा शक्ति खुशी, शान्ति, ज्ञान वा प्रेम का फल प्राप्त कर इसी में खुश हो जाते हैं। फिर भी भक्ति की भावना और अब बाप के परिचय से बाप वा परिवार के प्रति भावना इसमें अन्तर है। भक्ति की भावना अन्धश्रद्धा की भावना है। इनडायरेक्ट मिलने की भावना, अल्पकाल के स्वार्थ की भावना है। वर्तमान समय ज्ञान के आधार पर जो बच्चों की भावना है वह भक्ति मार्ग से अति श्रेष्ठ है क्योंकि इनडायरेक्ट देव आत्माओं द्वारा नहीं है, डायरेक्ट बाप के प्रति भावना है, पहचान है लेकिन भावना पूर्वक पहचान और ज्ञान द्वारा पहचान.. इसमें अन्तर है। ज्ञान द्वारा पहचान अर्थात् बाप जो है जैसा है, मैं भी जो हूँ जैसा हूँ उस विधि पूर्वक जानना अर्थात् बाप समान बनना। जाना तो सभी ने है लेकिन भावना पूर्वक वा ज्ञान की विधि पूर्वक.., इस अन्तर को जानना पड़े। तो आज बापदादा कई बच्चों की भावना देख रहे हैं। भावना द्वारा भी बाप को पहचानने से वर्सा तो प्राप्त कर ही लेते हैं। लेकिन सम्पूर्ण वर्से के अधिकारी और वर्से के अधिकारी यह अन्तर हो जाता है। स्वर्ग का भाग्य वा जीवन मुक्ति का अधिकार भावना वालों को और ज्ञान वालों को मिलता दोनों को है। सिर्फ पद की प्राप्ति में अन्तर हो जाता है। बाबा शब्द दोनों ही कहते हैं और खुशी से कहते हैं इसलिए बाबा कहने और समझने का फल वर्से की प्राप्ति तो होनी ही है। जीवनमुक्ति के अधिकार का हकदार तो बन जाते हैं लेकिन अष्ट रत्न, 108 विजयी रत्न, 16 हजार और फिर 9 लाख। कितना अन्तर हो गया। माला 16 हजार की भी है और 108 की भी है। 108 में 8 विशेष भी हैं। माला के मणके तो सभी बनते हैं। कहेंगे तो दोनों को मणके ना! 16 हजार की माला का मणका भी खुशी और फखुर से कहेगा कि मेरा बाबा और मेरा राज्य। राज्य पद में राज्य तख्त के अधिकारी और राज्य घराने के अधिकारी और राज्य घराने के सम्पर्क में आने के अधिकारी, यह अन्तर हो जाता है।

भावुक आत्मायें और ज्ञानी तू आत्मायें नशा दोनों को रहता है। बहुत अच्छी प्रभु प्रेम की बातें सुनाते हैं। प्रेम स्वरूप में दुनिया की सुधबुध भी भूल जाते हैं। मेरा तो एक बाप, इस लगन के गीत भी अच्छे गाते हैं लेकिन शक्ति रूप नहीं होते हैं। खुशी में भी बहुत देखेंगे लेकिन अगर छोटा-सा माया का विघ्न आया तो भावुक आत्मायें घबरायेंगे भी बहुत जल्दी क्योंकि ज्ञान की शक्ति कम होती है। अभी-अभी देखेंगे बहुत मौज में बाप के गीत गा रहे हैं और अभी-अभी माया का छोटा सा वार भी खुशी के गीत के बजाए क्या करूँ, कैसे करूँ, क्या होगा, कैसे होगा! ऐसे क्या-क्या के गीत गाने में भी कम नहीं होते। ज्ञानी तू आत्मायें सदा स्वयं को बाप के साथ रहने वाले मास्टर सर्वशक्तिवान समझने से माया को पार कर लेते हैं। क्या, क्यों के गीत नहीं गाते। भावुक आत्मायें सिर्फ प्रेम की शक्ति से आगे बढ़ते रहते हैं। माया से सामना करने की शक्ति नहीं होती। ज्ञानी तू आत्मा समान बनने के लक्ष्य से सर्व शक्तियों का अनुभव कर सामना कर सकते हैं। अब अपने आप से पूछो कि मैं कौन! भावुक आत्मा हूँ या ज्ञानी तू आत्मा हूँ? बाप तो भावना वालों को भी देख खुश होते हैं। मेरा बाबा कहने से अधिकारी तो हो ही गये ना। और अधिकार लेने के भी हकदार हो ही गये। पूरा लेना वा थोड़ा लेना… वह पुरुषार्थ प्रमाण जितना झोली भरने चाहे उतनी भर सकते हैं क्योंकि मेरा बाबा कहा तो वह चाबी तो लगा ही दी ना। और कोई चाबी नहीं है क्योंकि बापदादा सागर है ना। अखुट है, बेहद है। लेने वाले थक जाते। देने वाला नहीं थकता क्योंकि उसको मेहनत ही क्या करनी पड़ती। दृष्टि दी और अधिकार दिया। मेहनत लेने वालों को भी नहीं है सिर्फ अलबेलेपन के कारण गँवा देते हैं। और फिर अपनी कमजोरी के कारण गँवा कर फिर पाने के लिए मेहनत करनी पड़ती है। गँवाना पाना, पाना गँवाना इस मेहनत के कारण थक जाते हैं। खबरदार, होशियार हैं तो सदा प्राप्ति स्वरूप हैं। जैसे सतयुग में दासियाँ सदा आगे-पीछे सेवा के लिए साथ रहती हैं – ऐसे ज्ञानी तू आत्मा बाप समान श्रेष्ठ आत्मा के, अब भी सर्व शक्तियां, सर्व गुण सेवाधारी के रूप में सदा साथ निभाते हैं। जिस शक्ति का आह्वान करो, जिस भी गुण का आह्वान करो जी हाजिर। ऐसे स्वराज्य अधिकारी विश्व के राज्य अधिकारी बनते हैं। तो मेहनत तो नहीं लगेगी ना। हर शक्ति, हर गुण से सदा विजयी हैं ही, ऐसा अनुभव करते हैं। जैसे ड्रामा करके दिखाते हो ना। रावण अपने साथियों को ललकार करता और ब्राह्मण आत्मा, स्वराज्य अधिकारी आत्मा, अपने शक्तियों और गुणों को ललकार करती। तो ऐसे स्वराज्य अधिकारी बने हो? वा समय पर यह शक्तियाँ कार्य में नहीं ला सकते हो। कमजोर राजा का कोई नहीं मानता। राजा को प्रजा का मानना पड़ता। बहादुर राजे सभी को अपने आर्डर से चलाते और राज्य प्राप्त करते हैं। तो सहज को मुश्किल बनाना और फिर थक जाना, यह अलबेलेपन की निशानी है। नाम राजा और आर्डर में कोई नहीं, इसको क्या कहा जायेगा। कई कहते हैं ना मैंने समझा भी कि सहन शक्ति होनी चाहिए लेकिन पीछे याद आया। उस समय सोचते भी सहन शक्ति से कार्य नहीं ले सकते। इसका मतलब बुलाया अभी और आया कल। तो आर्डर में हुआ! हो गया माना अपनी शक्ति आर्डर में नहीं है। सेवाधारी समय पर सेवा न करें, तो ऐसे सेवाधारी को क्या कहेंगे? तो सदा स्वराज्य अधिकारी बन सर्व शक्तियों को, गुणों को, स्व प्रति और सर्व के प्रति सेवा में लगाओ। समझा। सिर्फ भावुक नहीं बनो, शक्तिशाली बनो। अच्छा – वैरायटी प्रकार की आत्माओं का मेला देख खुश हो रहे हो ना! मधुबन वाले कितने मेले देखते हैं! कितने वैरायटी ग्रुप्स आते हैं। बापदादा भी वैरायटी फुलवाड़ी को देख हर्षित होते हैं। भले आये। शिव की बारात का गायन जो है, वह देख रहे हो ना! बाबा-बाबा कहते सब चल पड़े तो हैं ना। मधुबन तो पहुँच गये। अब सम्पूर्ण मंजिल पर पहुँचना है। अच्छा!

सदा श्रेष्ठ अधिकार को पाने वाले विजयी आत्माओं को, सदा अपने अधिकार से सर्व शक्तियों द्वारा सेवा करने वाले शक्तिशाली आत्माओं को, सदा राज्य तख्त अधिकारी बनने वाले अधिकारी आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

अलग-अलग पार्टियों से अव्यक्त बापदादा की मुलाकत

पंजाब जोन से:- सभी पंजाब निवासी महावीर हो ना! डरने वाले तो नहीं? किसी भी बात का भय तो नहीं है! सबसे बड़ा भय होता है मृत्यु से। आप सब तो हो ही मरे हुए। मरे हुए को मरने का क्या डर। मृत्यु से डर तब लगता है जब सोचते हैं, अभी यह करना है, यह करें और वह पूर्ति नहीं होती है तो मृत्यु से भय होता है। आप तो सब कार्य पूरा कर एवररेडी हो। यह पुराना चोला छोड़ने के लिए एवररेडी हो ना इसलिए डर नहीं। और भी जो भयभीत आत्मायें हैं उन्हों को भी शक्तिशली बनाने वाले, दु:ख के समय पर सुख देने वाली आत्मायें हो। सुखदाता के बच्चे हो। जैसे अन्धियारे में अन्धकार का चिराग होता है तो रोशनी हो जाती है। ऐसे दु:ख के वातावरण में सुख देने वाली आप श्रेष्ठ आत्मायें हो। तो सदा यह सुख देने की श्रेष्ठ भावना रहती है! सदा सुख देना है, शान्ति देनी है। शान्तिदाता के बच्चे शान्ति देवा हो। तो शान्ति देवा कौन है? अकेला बाप नहीं, आप सब भी हो। तो शान्ति देने वाले शान्ति देवा – शान्ति देने का कार्य कर रहे हो ना! लोग पूछते हैं – आप लोग क्या सेवा करते हो? तो आप सभी को यही कहो कि इस समय जिस विशेष बात की आवश्यकता है वह कार्य हम कर रहे हैं। अच्छा, कपड़ा भी देंगे, अनाज भी दे देंगे, लेकिन सबसे आवश्यक चीज हैं शान्ति। तो जो सबके लिए आवश्यक चीज़ है वह हम दे रहे हैं, इससे बड़ी सेवा और क्या है। मन शान्त है तो धन भी काम में आता है। मन शान्त नहीं तो धन की शक्ति भी परेशान करती है। अभी ऐसे शान्ति की शक्तिशाली लहर फैलाओ जो सभी अनुभव करें कि सारे देश के अन्दर यह शान्ति का स्थान है। एक-दो से सुनें और अनुभव करने के लिए आवें कि दो घड़ी भी जाने से यहाँ बहुत शान्ति मिलती है। ऐसा आवाज फैले। शान्ति का कोना यही सेवा स्थान है, यह आवाज फैलना चाहिए। कितनी भी अशान्त आत्मा हो। जैसे रोगी हॉस्पिटल में पहुँच जाता है ऐसे यह समझें कि अशान्ति के समय इस शान्ति के स्थान पर ही जाना चाहिए। ऐसी लहर फैलाओ। यह कैसे फैलेगी? इसके लिए एक-दो आत्माओं को भी बुलाकर अनुभव कराओ। एक से एक, एक से एक ऐसे फैलता जायेगा। जो अशान्त हैं उन्हों को खास बुलाकर भी शान्ति का अनुभव कराओ। जो भी सम्पर्क में आये उन्हों को यह सन्देश दो कि शान्ति का अनुभव करो। पंजाब वालों को विशेष यह सेवा करनी चाहिए। अभी आवाज बुलन्द करने का चांस है। अभी भटक रहे हैं, कोई स्थान चाहिए। कौन-सा है.. वह परिचय नहीं है, ढूँढ रहे हैं। एक ठिकाने से तो भटक गये, समझ गये हैं कि यह ठिकाना नहीं है। ऐसी भटकती हुई आत्माओं को अभी सहज ठिकाना नहीं दे सकते हो? ऐसी सेवा करो। करफ्यू हो, कुछ भी हो, सम्पर्क में तो आते हो ना। सम्पर्क वालों को अनुभव कराओ तो ऐसी आत्मायें आवाज फैलायेंगी। उन्हें एक दो घण्टा भी योग शिविर कराओ। अगर थोड़ा भी शान्ति का अनुभव किया तो बहुत खुश होंगे, शुाक्रिया मानेंगे। जब लक्ष्य होता है कि हमको करना है तो रास्ता भी मिल जाता है। तो ऐसा नाम बाला करके दिखाओ। जितना पंजाब की धरनी सख्त है उतनी नर्म कर सकते हो। अच्छा!

2. सदा अपने को फरिश्ता अर्थात् डबल लाइट अनुभव करते हो? इस संगमयुग का अन्तिम स्वरूप फरिश्ता है ना। ब्राह्मण जीवन की प्राप्ति है ही फरिश्ता जीवन। फरिश्ता अर्थात् जिसका कोई देह और देह के सम्बन्ध में रिश्ता नहीं। देह और देह के सम्बन्ध, सबसे रिश्ता समाप्त हुआ या थोड़ा-सा अटका हुआ है? अगर थोड़ी-सी सूक्ष्म लगाव की रस्सी होगी तो उड़ नहीं सकेंगे, नीचे आ जायेंगे इसलिए फरिश्ता अर्थात् कोई भी पुराना रिश्ता नहीं। जब जीवन ही नया है तो सब कुछ नया होगा। संकल्प नया, सम्बन्ध नया। आक्यूपेशन नया। सब नया होगा। अभी पुरानी जीवन स्वप्न में भी स्मृति में नहीं आ सकती। अगर थोड़ा भी देह भान में आते तो भी रिश्ता है तब आते हो। अगर रिश्ता नहीं है तो बुद्धि जा नहीं सकती। विश्व की इतनी आत्मायें हैं उन्हों से रिश्ता नहीं तो याद नहीं आती हैं ना। याद वह आते हैं जिससे रिश्ता है। तो देह का भान आना अर्थात् देह का रिश्ता है। अगर देह के साथ जरा-सा लगाव रहा तो उड़ेंगे कैसे! बोझ वाली चीज़ को कितना भी ऊपर फेंको नीचे आ जायेगी। तो फरिश्ता माना हल्का, कोई बोझ नहीं। मरजीवा बनना अर्थात् बोझ से मुक्त होना। अगर थोड़ा भी कुछ रह गया तो जल्दी-जल्दी खत्म करो नहीं तो जब समय की सीटी बजेगी तो सब उड़ने लगेंगे और बोझ वाले नीचे रह जायेंगे। बोझ वाले उड़ने वालों को देखने वाले हो जायेंगे।

तो यह चेक करना कि कोई सूक्ष्म रस्सी भी रह तो नहीं गई है। समझा। तो आज का विशेष वरदान याद रखना कि निर्बन्धन फरिश्ता आत्मायें हैं। बन्धनमुक्त आत्मायें हैं। फरिश्ता शब्द कभी नहीं भूलना। फरिश्ता समझने से उड़ जायेंगे। वरदाता का वरदान याद रखेंगे तो सदा मालामाल रहेंगे।

3. सदा अपने को शान्ति का सन्देश देने वाले शान्ति का पैगाम देने वाले सन्देशी समझते हो? ब्राह्मण जीवन का कार्य है सन्देश देना। कभी इस कार्य को भूलते तो नहीं हो? रोज़ चेक करो कि मुझ श्रेष्ठ आत्मा का जो श्रेष्ठ कार्य है वह कहाँ तक किया! कितनों को सन्देश दिया? कितनों को शान्ति का दान दिया? सन्देश देने वाले महादानी, वरदानी आत्मायें हो। कितने टाइटल हैं आपके? आज की दुनिया में कितने भी बड़े ते बड़े टाइटल हों, आपके आगे सब छोटे हैं। वह टाइटल देने वाली आत्मायें हैं लेकिन अब बाप बच्चों को टाइटल देते हैं। तो अपने भिन्न-भिन्न टाइटल्स को स्मृति में रख उसी खुशी, उसी सेवा में सदा रहो। टाइटल की स्मृति से सेवा स्वत: स्मृति में आयेगी। अच्छा!

वरदान:- एकाग्रता की शक्ति से परवश स्थिति को परिवर्तन करने वाले अधिकारी आत्मा भव 
ब्राह्मण अर्थात् अधिकारी आत्मा कभी किसी के परवश नहीं हो सकती। अपने कमजोर स्वभाव संस्कार के वश भी नहीं क्योंकि स्वभाव अर्थात् स्व प्रति और सर्व के प्रति आत्मिक भाव है तो कमजोर स्वभाव के वश नहीं हो सकते और अनादि आदि संस्कारों की स्मृति से कमजोर संस्कार भी सहज परिवर्तन हो जाते हैं। एकाग्रता की शक्ति परवश स्थिति को परिवर्तन कर मालिकपन की स्थिति की सीट पर सेट कर देती है।
स्लोगन:- क्रोध ज्ञानी तू आत्मा के लिए महाशत्रु है।
Font Resize