10 december ki murli

TODAY MURLI 10 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 10 December 2020

10/12/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the donation of the imperishable jewels of knowledge is the greatest donation. It is through this donation that you receive a kingdom. Therefore, become great donors.
Question: What are the main signs of the children who have a keen interest in doing service?
Answer: 1) They do not like the atmosphere of the old world at all. 2) They are happy to serve many and make others the same as themselves. 3) Only in studying and teaching others do they feel comfortable. 4) Even if their throats dry up while explaining to others, they remain happy. 5)They don’t want anyone’s property. They do not waste their time chasing after someone else’s property. 6) Their strings of attachment are broken away from everywhere. 7) They have generous hearts, like the Father. Apart from doing service, they do not find anything else sweet.
Song: Salutations to Shiva!

Om shanti. The spiritual Father, whose praise you have just heard, sits here and teaches you children lessons. This is a school. All of you are learning your lessons from the Teacher. This One is the Supreme Teacher who is also called the Supreme Father. Only the spiritual Father can be called the Supreme Father. A physical father would never be called the Supreme Father. You would say: We are now sitting with the parlokik Father. Some are already sitting here and some come here as guests. You understand that you are sitting with the unlimited Father in order to claim your inheritance. So, you should have so much internal happiness. Poor people continue to cry out in distress. At this time, everyone in the world says that there should be peace in the world. The poor helpless people don’t know what peace is. Only the Father, who is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Peace, can establish peace. There is just peace in the incorporeal world. Here, people cry out in distress: How can there be peace in the world? There used to be peace in the golden-aged new world when there was just the one religion. The new world is called Paradise, the world of deities. Everywhere in the scriptures they have just written things of peacelessness. They have shown Kans in the copper age and then they have shown Hirnakashap in the golden age. They have shown the upheavalof Ravan in the silver age; they have shown peacelessness everywhere. The poor people are in such extreme darkness. They call out to the unlimited Father. Only when God, the Father, comes can He then establish peace. The poor people don’t know God at all. Peace only exists in the new world. It cannot exist in the old world. Only the Father establishes the new world. People call out to Him to come and establish peace. Even those who belong to the Arya Samaj sing praise of the Bestower of Peace. The Father says: It is purity first. You are now becoming pure. There, there is purity, peace, health, wealth and everything. People become unhappy without wealth. You come here to become as wealthy as Lakshmi and Narayan. They were the masters of the world. You have come here to become the masters of the world. However, each one’s intellect is numberwise. Baba has said: When you go out in the morning in a procession, you should definitely take the picture of Lakshmi and Narayan with you. Create such tactics. The children’s intellects are now to become divine. At this time they have just gone to the rajo stage from being tamopradhan. They now have to reach the satopradhan stage after becoming sato. You don’t have that strength as yet. You do not stay in remembrance. There is a lot missing in the power of yoga. No one can become satopradhan instantly. It is remembered that there is liberation-in-life in a second. That is fine. Since you have become Brahmins, you are liberated-in-life. Then, even in liberation-in-life, there are the highest, the mediocre and the lowest levels. Those who belong to the Father definitely receive liberation-in-life. Although some belong to the Father and then leave Him, in spite of that, they will still receive liberation-in-life. They will become sweepers in heaven. They will at least go to heaven, but they will receive a low status. The Father gives you imperishable knowledge which is never destroyed. Drums of happiness should beat in the hearts of you children. After the cries of distress, there will be cries of wonder. You are now the children of God. You will then become children of the deities. Your lives at this time are as valuable as diamonds. You are serving Bharat and making it peaceful. There, there is purity, peace and happiness; there is everything there! These lives of yours are even more elevated than those of the deities. You now know the Father, the Creator, and the world cycle. It is said that all the festivals etc. have continued from time immemorial. However, from when? No one knows this. They believe that it is from when the world began, that the burning of Ravan is also from time immemorial. However, Ravan doesn’t exist in the golden age. There is no type of sorrow there and this is why they don’t even remember God. Here, everyone continues to remember God. They believe that only God will bring peace to the world. This is why they say: Come and have mercy on us! Liberate us from sorrow! It is the children who call out to the Father because it is they who have seen happiness. The Father says: I will purify you and take you back with Me. Those who don’t become pure will experience punishment. Here, you have to remain pure in your thoughts, words and deeds. Your thoughts have to be very good. You have to make so much effort that, at the end, you don’t have any wasteful thoughts. Do not remember anyone but the one Father. The Father explains: These thoughts will come until you reach the karmateet stage. You have to become as unshakeable as Hanuman. That requires great effort. The children who are obedient, faithful and worthy are loved by the Father a great deal. Those who don’t conquer the five vices cannot be loved as much. You children know that you claim your inheritance from the Father every cycle, and so your mercury of happiness should rise so high! You also know that establishment definitely has to take place. This old world definitely has to become a graveyard. We are continuing to make effort as we did in the previous cycle in order to go to the land of angels. This is a graveyard. The explanation of the old world and the new world is given in the picture of the ladder. This picture of the ladder is so good but, nevertheless, people are unable to understand anything. Even those who live here on the shore of the Ocean are unable to understand fully. You definitely have to donate the wealth of knowledge. Wealth never diminishes by donating it. It is said: Donor and then great donor. Those who build a hospital or a pilgrims’ rest house are called great donors. They receive the fruit of that in their next birth for a temporary period. For instance, if someone builds a pilgrims’ rest house, he will receive the happiness of a good home in his next birth. Those who donate a lot of wealth will take birth to a king or to a wealthy person. They become that by donating whereas you claim a royal status by studying. There is a study and also a donation. Here, it is direct whereas on the path of devotion it is indirect. Shiv Baba is making you become like that through this study. Shiv Baba has the imperishable jewels of knowledge. Each jewel is worth hundreds of thousands of rupees. This cannot be said of devotion. This is called knowledge. They have the knowledge of devotion in the scriptures; they receive teachings about how to perform devotion. You children have the intoxication of knowledge which goes right to your head. You receive knowledge after doing devotion. Through knowledge you experience the intoxication of the sovereignty of the world which goes right to your head. Those who do a lot of service will become intoxicated. Those who give good lectures are invited to the museums and exhibitions. They would definitely be numberwise there too. There are the elephant riders, the horse riders and the foot soldiers. The memorial is created in the Dilwala Temple. You say: This is the living Dilwala and that is the non-living one. You are incognito and this is why people don’t recognize you. You are Raj Rishis and they are hatha yoga rishis. You are now gyan gyaneshwari (knowledge-full). The Ocean of Knowledge is giving you knowledge. You are the children of the eternal Surgeon. Only the Surgeon would feel your pulse. How would those who don’t know their own pulse know the pulse of others? You are the children of the eternal Surgeon, are you not? The Satguru gives you the ointment of knowledge; this is the injection of knowledge. Souls are given an injection. That praise is of this time. It is the praise of the Satguru. Only the Satguru would give the injection of knowledge to gurus. You are the children of the eternal Surgeon and so your business is to give everyone the injection of knowledge. Among doctors too, some earn one hundred thousand rupees in a month, whereas others barely earn 500 rupees. People go to each one, numberwise. A judgement is received from the High Court or the Supreme Court to put someone on the gallows. Then an appeal is made to the President, and so he forgives him. You children should be intoxicated and remain generous hearted. The Father entered this Lucky Chariot and so He made him generous hearted. He Himself can do anything, can He not? He entered this one and became the Master. OK, all of that has to be used to benefit Bharat. You use your wealth for the benefit of Bharat. When someone asks you how you cover your expenses, tell him: We are doing service with our own bodies, minds and wealth. We will rule and so we will use our own money. We cover the expenses ourselves. We Brahmins are establishing the kingdom by following shrimat. Those who become Brahmins will cover the expenses. We have become Brahmins from shudras and we then have to become deities. Baba says: Create all the pictures in “trans-light” (illuminated transparency) form so that people are attracted to them and the arrow instantly strikes the target. Some will not come here at all because they are afraid of magic. To change humans into deities is magic, is it not? God speaks: I teach you Raj Yoga. Hatha yogis cannot teach Raj Yoga. You now understand these things. You are becoming worthy of sitting in a temple. At this time the whole world is an unlimited Lanka. There is Ravan’s kingdom over the entire world. How could Ravan etc. exist in the golden and silver ages? The Father says: Listen to the things I tell you now. Don’t see anything with those eyes. This old world has to be destroyed. This is why we are remembering our land of peace and land of happiness. From worshippers, you are now becoming worthy of worship. This one was a number one worshipper. He used to worship Narayan a great deal. He is now once again becoming the worthy-of-worship Narayan. You too can make effort and become this. The kingdom continues, just as there is King Edward the First, the Secondthe Third etc. The Father says: You have been calling Me omnipresent and have been rejecting Me. Nevertheless, I have been uplifting you. This play is created so wonderfully! You definitely have to make effort. According to the drama, you will make the same effort that you made in the previous cycle. The children who have a keen interest in doing service only have this one concern day and night. You children have found the path through the Father and so you don’t like to do anything but serve others. You don’t like the worldly atmosphere. Those who do service don’t find any comfort without doing service. A teacher enjoys teaching. You have now become very elevated teachers. This is your business. The better a teacher is and the more he makes many others the same as himself, so he receives a prize accordingly. He would not rest until he had taught someone. At exhibitions, sometimes, if it is even 12 midnight, they experience happiness. Even if they become tired and their throats dry up, they still remain happy, because this is Godly service. This is very elevated service. They don’t find anything else sweet. They say: What would we do with this property etc? We just want to teach. This is the only service we want to do. If they find that there are complications with their wealth or property, they would say: Of what use is this gold for which your ears can be cut off? Your boat has to go across by your doing service. Baba says: Those who donate buildings can still keep them in their name. The BKs just want to do service. Any external bondage is not very good for this service. Some people’s strings of attachment are pulled and some people’s strings of attachment are broken. Baba says: Become “Manmanabhav” and your sins will be absolved. You receive a great deal of help. You have to become engaged in this service. There is a great deal of income in this service. It is not a question of buildings etc. If they give you a building and then impose conditions, you should not take it. Those who don’t know how to do service are of no use to us. A teacher would make others the same as himself. Of what use are they if they don’t become this. There is a great need for hands. In this too, there is a greater need for mothers and kumaris. You children understand that the Father is the Teacher and so you children also have to become teachers. It isn’t that teachers cannot do any other type of work. You have to do all types of work. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost, now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Day and night, only have thoughts of service. Break all other strings of attachment. There is no comfort for you without doing service. Do service and make others the same as yourself.
  2. Become as generous hearted as the Father. Feel everyone’s pulse and then serve them. Use your body, mind and wealth to benefit Bharat. In order to become unshakeable and immovable, be obedient and faithful.
Blessing: May you become soul conscious and detached from your body by staying in the cave of introspection.
The cave of the Pandavas that is shown is the cave of introspection. To the extent that you remain detached from your body, to the extent that you stay in the cave and remain stable in the soul-conscious form, to that extent, you remain beyond the atmosphere of the world and are not influenced by it. Just as you are able to go beyond the atmosphere outside by staying in the cave, in a same way, this cave of introspection makes you unique to everyone and loving to the Father, and those who are loved by the Father automatically become completely unique.
Slogan: Spiritual endeavor is the seed and facilities are its expansion. Do not hide the spiritual endeavor in the expansion.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 10 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

10-12-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान ही महादान है, इस दान से ही राजाई प्राप्त होती है इसलिए महादानी बनो”
प्रश्नः- जिन बच्चों को सर्विस का शौक होगा उनकी मुख्य निशानियाँ क्या होगी?
उत्तर:- 1. उन्हें पुरानी दुनिया का वातावरण बिल्कुल अच्छा नहीं लगेगा, 2. उन्हें बहुतों की सेवा कर आप-समान बनाने में ही खुशी होगी, 3. उन्हें पढ़ने और पढ़ाने में ही आराम आयेगा, 4. समझाते-समझाते गला भी खराब हो जाए तो भी खुशी में रहेंगे, 5. उन्हें किसी की मिलकियत नहीं चाहिए। वह किसी की प्रापर्टी के पीछे अपना समय नहीं गंवायेंगे। 6. उनकी रगें सब तरफ से टूटी हुई होंगी. 7. वह बाप समान उदारचित होंगे। उन्हें सेवा के सिवाए और कुछ भी मीठा नहीं लगेगा।
गीत:- ओम् नमो शिवाए……..

ओम् शान्ति। रूहानी बाप जिसकी महिमा सुनी वह बैठ बच्चों को पाठ पढ़ाते हैं, यह पाठशाला है ना। तुम सब यहाँ पाठ पढ़ रहे हो टीचर से। यह है सुप्रीम टीचर, जिसको परमपिता भी कहा जाता है। परमपिता रूहानी बाप को ही कहा जाता है। लौकिक बाप को कभी परमपिता नहीं कहेंगे। तुम कहेंगे अभी हम पारलौकिक बाप के पास बैठे हैं। कोई बैठे हैं, कोई मेहमान बन आते हैं। तुम समझते हो हम बेहद के बाप पास बैठे हैं, वर्सा लेने के लिए। तो अन्दर में कितनी खुशी होनी चाहिए। मनुष्य तो बिचारे चिल्लाते रहते हैं। इस समय दुनिया में सब कहते हैं दुनिया में शान्ति हो। यह तो बिचारों को पता नहीं, शान्ति क्या वस्तु है। ज्ञान का सागर, शान्ति का सागर बाप ही शान्ति स्थापन करने वाला है। निराकारी दुनिया में तो शान्ति ही है। यहाँ चिल्लाते हैं कि दुनिया में शान्ति कैसे हो? अब नई दुनिया सतयुग में तो शान्ति थी जबकि एक धर्म था। नई दुनिया को कहते हैं पैराडाइज़, देवताओं की दुनिया। शास्त्रों में जहाँ-तहाँ अशान्ति की बातें लिख दी हैं। दिखाते हैं द्वापर में कंस था, फिर हिरण्यकश्यप को सतयुग में दिखाते हैं, त्रेता में रावण का हंगामा…..। सब जगह अशान्ति दिखा दी है। मनुष्य बिचारे कितना घोर अन्धियारे में हैं। पुकारते भी हैं बेहद के बाप को। जब गॉड फादर आये तब वही आकर शान्ति स्थापन करे। गॉड को बिचारे जानते ही नहीं। शान्ति होती ही है नई दुनिया में। पुरानी दुनिया में होती नहीं। नई दुनिया स्थापन करने वाला तो बाप ही है। उनको ही बुलाते हैं कि आकर पीस स्थापन करो। आर्य समाजी भी गाते हैं शान्ति देवा।

बाप कहते हैं पहले है पवित्रता। अभी तुम पवित्र बन रहे हो। वहाँ पवित्रता भी है, पीस भी है, हेल्थ-वेल्थ सब है। धन बिगर तो मनुष्य उदास हो जाते हैं। तुम यहाँ आते हो इन लक्ष्मी-नारायण जैसा धनवान बनने। यह विश्व के मालिक थे ना। तुम आये हो विश्व का मालिक बनने। परन्तु वह दिमाग सबका नम्बरवार है। बाबा ने कहा था – जब प्रभातफेरी निकालते हो तो साथ में लक्ष्मी-नारायण का चित्र जरूर उठाओ। ऐसी युक्ति रचो। अभी बच्चों की बुद्धि पारसबुद्धि बनने की है। इस समय अजुन तमोप्रधान से रजो तक गये हैं। अभी सतो, सतोप्रधान तक जाना है। वह ताकत अभी नहीं है। याद में रहते नहीं हैं। योगबल की बहुत कमी है। फट से सतोप्रधान नहीं बन सकते हैं। यह जो गायन है सेकण्ड में जीवनमुक्ति, वह तो ठीक है। तुम ब्राह्मण बने हो तो जीवनमुक्त बन ही गये, फिर जीवन-मुक्ति में भी सर्वोत्तम, मध्यम, कनिष्ट होते हैं। जो बाप का बनते हैं तो जीवनमुक्ति मिलती जरूर है। भल बाप का बन फिर बाप को छोड़ देते हैं तो भी जीवनमुक्ति जरूर मिलेगी। स्वर्ग में झाडू लगाने वाला बन जायेंगे। स्वर्ग में तो जायेंगे। बाकी पद कम मिल जाता। बाप अविनाशी ज्ञान देते हैं, उसका कभी विनाश नहीं होता है। बच्चों के अन्दर में खुशी के ढोल बजने चाहिए। यह हाय-हाय होने के बाद फिर वाह-वाह होनी है।

तुम अभी ईश्वरीय सन्तान हो। फिर बनेंगे दैवी सन्तान। इस समय तुम्हारी यह जीवन हीरे तुल्य है। तुम भारत की सर्विस कर भारत को पीसफुल बनाते हो। वहाँ पवित्रता, सुख, शान्ति सब रहती है। यह जीवन तुम्हारा देवताओं से भी ऊंच है। अभी तुम रचता बाप को और सृष्टि चक्र को जानते हो। कहते हैं यह त्योहार आदि जो भी हैं परम्परा से चले आते हैं। परन्तु कब से? यह कोई नहीं जानते। समझते हैं जबसे सृष्टि शुरू हुई, रावण को जलाना आदि भी परम्परा से चला आता है। अब सतयुग में तो रावण होता नहीं। वहाँ कोई भी दु:खी नहीं है इसलिए गॉड को भी याद नहीं करते। यहाँ सब गॉड को याद करते रहते। समझते हैं गॉड ही विश्व में शान्ति करेंगे, इसलिए कहते हैं आकर रहम करो। हमको दु:ख से लिबरेट करो। बच्चे ही बाप को बुलाते हैं क्योंकि बच्चों ने ही सुख देखा है। बाप कहते हैं – तुमको पवित्र बनाकर साथ ले चलेंगे। जो पवित्र नहीं बनेंगे वह तो सज़ा खायेंगे। इसमें मन्सा, वाचा, कर्मणा पवित्र रहना है। मन्सा भी बड़ी अच्छी चाहिए। इतनी मेहनत करनी है जो पिछाड़ी में मन्सा में कोई व्यर्थ ख्याल न आये। एक बाप के सिवाए कोई भी याद न आये। बाप समझाते हैं अभी मन्सा तक तो आयेंगे जब तक कर्मातीत अवस्था हो। हनुमान मिसल अडोल बनो, उसमें ही तो बड़ी मेहनत चाहिए। जो आज्ञाकारी, वफादार, सपूत बच्चे होते हैं बाप का प्यार भी उन पर जास्ती रहता है। 5 विकारों पर जीत न पाने वाले इतने प्यारे लग न सकें। तुम बच्चे जानते हो हम कल्प-कल्प बाप से यह वर्सा लेते हैं तो कितना खुशी का पारा चढ़ना चाहिए। यह भी जानते हो स्थापना तो जरूर होनी है। यह पुरानी दुनिया कब्रदाखिल होनी है जरूर। हम परिस्तान में जाने लिए कल्प पहले मिसल पुरूषार्थ करते रहते हैं। यह तो कब्रिस्तान है ना। पुरानी दुनिया और नई दुनिया की समझानी सीढ़ी में है। यह सीढ़ी कितनी अच्छी है तो भी मनुष्य समझते नहीं हैं। यहाँ सागर के कण्ठे पर रहने वाले भी पूरा समझते नहीं। तुम्हें ज्ञान धन का दान तो जरूर करना चाहिए। धन दिये धन ना खुटे। दानी, महादानी कहते हैं ना। जो हॉस्पिटल, धर्मशाला आदि बनाते हैं, उनको महादानी कहते हैं। उसका फल फिर दूसरे जन्म में अल्पकाल के लिए मिलता है। समझो धर्मशाला बनाते हैं तो दूसरे जन्म में मकान का सुख मिलेगा। कोई बहुत-बहुत धन दान करते हैं तो राजा के घर में वा साहूकार के घर में जन्म लेते हैं। वह दान से बनते हैं। तुम पढ़ाई से राजाई पद पाते हो। पढ़ाई भी है, दान भी है। यहाँ है डायरेक्ट, भक्ति मार्ग में है इनडायरेक्ट। शिवबाबा तुमको पढ़ाई से ऐसा बनाते हैं। शिव-बाबा के पास तो हैं ही अविनाशी ज्ञान रत्न। एक-एक रत्न लाखों रूपयों के हैं। भक्ति के लिए ऐसे नहीं कहा जाता। ज्ञान इसको कहा जाता है। शास्त्रों में भक्ति का ज्ञान है, भक्ति कैसे की जाए उसके लिए शिक्षा मिलती है। तुम बच्चों को है ज्ञान का कापारी नशा। तुम्हें भक्ति के बाद ज्ञान मिलता है। ज्ञान से विश्व की बादशाही का कापारी नशा चढ़ता है। जो जास्ती सर्विस करेंगे, उनको नशा चढ़ेगा। प्रदर्शनी अथवा म्युज़ियम में भी अच्छा भाषण करने वालों को बुलाते हैं ना। वहाँ भी जरूर नम्बरवार होंगे। महारथी, घोड़ेसवार, प्यादे होते हैं। देलवाड़ा मन्दिर में भी यादगार बना हुआ है। तुम कहेंगे यह है चैतन्य देलवाड़ा, वह है जड़। तुम हो गुप्त इसलिए तुमको जानते नहीं।

तुम हो राजऋषि, वह हैं हठयोग ऋषि। अभी तुम ज्ञान ज्ञानेश्वरी हो। ज्ञान सागर तुमको ज्ञान देते हैं। तुम अविनाशी सर्जन के बच्चे हो। सर्जन ही नब्ज देखेगा। जो अपनी नब्ज को ही नहीं जानते तो दूसरे को फिर कैसे जानेंगे। तुम अविनाशी सर्जन के बच्चे हो ना। ज्ञान अंजन सतगुरू दिया… यह ज्ञान इन्जेक्शन है ना। आत्मा को इन्जेक्शन लगता है ना। यह महिमा भी अभी की है। सतगुरू की ही महिमा है। गुरूओं को भी ज्ञान इन्जेक्शन सतगुरू ही देंगे। तुम अविनाशी सर्जन के बच्चे हो तो तुम्हारा धन्धा ही है ज्ञान इन्जेक्शन लगाना। डॉक्टरों में भी कोई मास में लाख, कोई 500 भी मुश्किल कमायेंगे। नम्बरवार एक-दो के पास जाते हैं ना। हाईकोर्ट, सुप्रीमकोर्ट में जजमेंट मिलती है – फाँसी पर चढ़ना है। फिर प्रेजीडेंट पास अपील करते हैं तो वह माफ भी कर देते हैं।

तुम बच्चों को तो नशा रहना चाहिए, उदारचित होना चाहिए। इस भागीरथ में बाप प्रवेश हुआ तो इनको बाप ने उदारचित बनाया ना। खुद तो कुछ भी कर सकते हैं ना। वह इसमें आकर मालिक बन बैठा। चलो यह सब भारत के कल्याण के लिए लगाना है। तुम धन लगाते हो, भारत के ही कल्याण के लिए। कोई पूछे खर्चा कहाँ से लाते हो? बोलो, हम अपने ही तन-मन-धन से सर्विस करते हैं। हम राज्य करेंगे तो पैसा भी हम लगायेंगे। हम अपना ही खर्चा करते हैं। हम ब्राह्मण श्रीमत पर राज्य स्थापन करते हैं। जो ब्राह्मण बनेंगे वही खर्चा करेंगे। शुद्र से ब्राह्मण बनें फिर देवता बनना है। बाबा तो कहते हैं सब चित्र ऐसे ट्रांसलाइट के बनाओ जो मनुष्यों को कशिश हो। कोई को झट से तीर लग जाए। कोई जादू के डर से आयेंगे नहीं। मनुष्य से देवता बनाना – यह जादू है ना। भगवानुवाच, मैं तुमको राजयोग सिखाता हूँ। हठयोगी कभी राजयोग सिखला न सके। यह बातें अभी तुम समझते हो। तुम मन्दिर लायक बन रहे हो। इस समय यह सारी विश्व बेहद की लंका है। सारे विश्व में रावण का राज्य है। बाकी सतयुग-त्रेता में यह रावण आदि हो कैसे सकते।

बाप कहते हैं अभी मैं जो सुनाता हूँ, वह सुनो। इन आंखों से कुछ देखो नहीं। यह पुरानी दुनिया ही विनाश होनी है, इसलिए हम अपने शान्तिधाम-सुखधाम को ही याद करते हैं। अभी तुम पुजारी से पूज्य बन रहे हो। यह नम्बरवन पुजारी थे, नारायण की बहुत पूजा करते थे। अब फिर पूज्य नारायण बन रहे हैं। तुम भी पुरुषार्थ कर बन सकते हो। राजधानी तो चलती है ना। जैसे किंग एडवर्ड दी फर्स्ट, सेकेण्ड, थर्ड चलता है। बाप कहते हैं तुम सर्वव्यापी कहकर हमारा तिरस्कार करते आये हो। फिर भी हम तुम्हारा उपकार करता हूँ। यह खेल ही ऐसा वन्डरफुल बना हुआ है। पुरुषार्थ जरूर करना है। कल्प पहले जो पुरुषार्थ किया है, वही ड्रामा अनुसार करेंगे। जिस बच्चे को सर्विस का शौक रहता है, उसको रात-दिन यही चिंतन रहता है। तुम बच्चों को बाप से रास्ता मिला है, तो तुम बच्चों को सर्विस बिगर और कुछ अच्छा नहीं लगता है। दुनियावी वातावरण अच्छा नहीं लगता है। सर्विस वालों को तो सर्विस बिगर आराम नहीं। टीचर को पढ़ाने में मजा आता है। अब तुम बने हो बहुत ऊंच टीचर। तुम्हारा धंधा ही यह है, जितना अच्छा टीचर बहुतों को आपसमान बनायेंगे, उनको इतना इज़ाफा मिलता है। उनको पढ़ाने बिगर आराम नहीं आयेगा। प्रदर्शनी आदि में रात को 12 भी बज जाते हैं तो भी खुशी होती है। थकावट होती है, गला खराब हो जाता है तो भी खुशी में रहते हैं। ईश्वरीय सर्विस है ना। यह बहुत ऊंच सर्विस है, उनको फिर कुछ भी मीठा नहीं लगता है। कहेंगे हम यह मकान आदि लेकर भी क्या करेंगे, हमको तो पढ़ाना है। यही सर्विस करनी है। मिलकियत आदि में खिटपिट देखेंगे तो कहेंगे यह सोना ही किस काम का जो कान कटें। सर्विस से तो बेड़ा पार होना है। बाबा कह देते हैं, मकान भी भल उनके नाम पर हो। बी0 के0 को तो सर्विस करनी है। इस सर्विस में कोई बाहर का बंधन अच्छा नहीं लगता है। कोई की तो रग जाती है। कोई की रग टूटी हुई रहती है। बाबा कहते हैं मनमनाभव तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। बहुत मदद मिल जाती है। इस सर्विस में तो लग जाना चाहिए। इसमें आमदनी है बहुत। मकान आदि की बात नहीं। मकान दे और बन्धन डाले तो ऐसे लेंगे नहीं। जो सर्विस नहीं जानते वह तो अपने काम के नहीं। टीचर आपसमान बनायेंगे। नहीं बनते तो वह क्या काम के। हैण्ड्स की बहुत जरूरत रहती है ना। इसमें भी कन्याओं, माताओं की जास्ती जरूरत रहती है। बच्चे समझते हैं – बाप टीचर है, बच्चे भी टीचर चाहिए। ऐसे नहीं कि टीचर और कोई काम नहीं कर सकते हैं। सब काम करना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) दिन-रात सर्विस के चिंतन में रहना है और सब रगें तोड़ देनी हैं। सर्विस के बिगर आराम नहीं, सर्विस कर आपसमान बनाना है।

2) बाप समान उदारचित बनना है। सबकी नब्ज देख सेवा करनी है। अपना तन-मन-धन भारत के कल्याण में लगाना है। अचल-अडोल बनने के लिए आज्ञाकारी व़फादार बनना है।

वरदान:- अन्तर्मुखता की ग़ुफा में रहने वाले देह से न्यारे देही भव
जो पाण्डवों की गुफायें दिखाते हैं – वह यही अन्तर्मुखता की गुफायें हैं, जितना देह से न्यारे, देही रूप में स्थित होने की गुफा में रहते हो उतना दुनिया के वातावरण से परे हो जाते हो, वातावरण के प्रभाव में नहीं आते। जैसे ग़ुफा के अन्दर रहने से बाहर के वातावरण से परे हो जाते हैं ऐसे यह अन्तर्मुखता की गुफा भी सबसे न्यारा बना और बाप का प्यारा बना देती है। और जो बाप का प्यारा है वह स्वत: सबसे न्यारा हो जाता है।
स्लोगन:- साधना बीज है और साधन उसका विस्तार है। विस्तार में साधना को छिपा नहीं देना।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 10 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 December 2019

10-12-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – सर्वशक्तिमान् बाप से बुद्धियोग लगाने से शक्ति मिलेगी, याद से ही आत्मा रूपी बैटरी चार्ज होती है, आत्मा पवित्र सतोप्रधान बन जाती है”
प्रश्नः- संगमयुग पर तुम बच्चे कौन-सा पुरूषार्थ करते हो जिसकी प्रालब्ध में देवता पद मिलता है?
उत्तर:- संगम पर हम शीतल बनने का पुरूषार्थ करते हैं। शीतल अर्थात् पवित्र बनने से हम देवता बन जाते हैं। जब तक शीतल न बनें तब तक देवता भी बन नहीं सकते। संगम पर शीतल देवियां बन सब पर ज्ञान के ठण्डे छींटे डाल सबको शीतल करना है। सबकी तपत बुझानी है। खुद भी शीतल बनना है और सबको भी बनाना है।

ओम् शान्ति। बच्चों को पहले-पहले एक ही बात समझने की है कि हम सब भाई-भाई हैं और शिवबाबा सभी का बाप है। उन्हें सर्वशक्तिमान् कहा जाता है। तुम्हारे में सर्वशक्तियाँ थी। तुम सारे विश्व पर राज्य करते थे। भारत में इन देवी-देवताओं का राज्य था, तुम ही पवित्र देवी-देवता थे। तुम्हारे कुल वा डिनायस्टी में सभी निर्विकारी थे। कौन निर्विकारी थे? आत्मायें। अभी फिर से तुम निर्विकारी बन रहे हो। सर्वशक्तिमान बाप की याद से शक्ति ले रहे हो। बाप ने समझाया है आत्मा ही 84 का पार्ट बजाती है। आत्मा में ही सतोप्रधानता की ताकत थी, वह फिर दिन-प्रतिदिन कम होती जाती है। सतोप्रधान से तमोप्रधान तो बनना ही है। जैसे बैटरी की ताकत कम होती जाती है तो मोटर खड़ी हो जाती है। बैटरी डिस्चार्ज हो जाती है। आत्मा की बैटरी फुल डिस्चार्ज नहीं होती, कुछ न कुछ ताकत रहती है। जैसे कोई मरता है तो दीवा जलाते हैं, उसमें घृत डालते ही रहते हैं कि कहाँ ज्योत बुझ न जाए। अभी तुम बच्चे समझते हो तुम्हारी आत्मा में पूरी शक्ति थी, अभी नहीं है। अभी फिर तुम सर्वशक्तिमान बाप से अपना बुद्धियोग लगाते हो, अपने में शक्ति भरते हो क्योंकि शक्ति कम हो गई है। शक्ति एकदम खत्म हो जाए तो शरीर ही न रहे। आत्मा बाप को याद करते-करते एकदम प्योर हो जाती है। सतयुग में तुम्हारी बैटरी फुल चार्ज रहती है। फिर धीरे-धीरे कला अर्थात् बैटरी कम होती जाती है। कलियुग अन्त तक आत्मा की ताकत एकदम थोड़ी रह जाती है। जैसे ताकत का देवाला निकल जाता है। बाप को याद करने से आत्मा फिर से भरपूर हो जाती है। तो अभी बाप समझाते हैं एक को ही याद करना है। ऊंच ते ऊंच है भगवंत। बाकी सब है रचना। रचना को रचना से हद का वर्सा मिलता है। क्रियेटर तो एक ही बेहद का बाप है। बाकी सब हैं हद के। बेहद के बाप को याद करने से बेहद का वर्सा मिलता है। तो बच्चों को दिल अन्दर समझना चाहिए कि बाबा हमारे लिए स्वर्ग नई दुनिया स्थापन कर रहे हैं। ड्रामा प्लैन अनुसार स्वर्ग की स्थापना हो रही है, जिसमें तुम बच्चे ही आकर राज्य करते हो। मैं तो एवर पवित्र हूँ। मैं कभी गर्भ से जन्म नहीं लेता हूँ, न देवी-देवताओं की तरह जन्म लेता हूँ। सिर्फ तुम बच्चों को स्वर्ग की बादशाही देने के लिए जब यह (बाबा) 60 वर्ष की वानप्रस्थ अवस्था में होता है तब इनके तन में मैं प्रवेश करता हूँ। यही फिर नम्बरवन तमोप्रधान से नम्बरवन सतोप्रधान बनता है। ऊंच ते ऊंच है भगवान। फिर है ब्रह्मा, विष्णु, शंकर-सूक्ष्मवतन वासी। यह ब्रह्मा, विष्णु, शंकर कहाँ से आये? यह सिर्फ साक्षात्कार होता है। सूक्ष्मवतन बीच का है ना। जहाँ स्थूल शरीर है नहीं। सूक्ष्म शरीर सिर्फ दिव्य दृष्टि से देखा जाता है। ब्रह्मा तो है सफेद वस्त्रधारी। वह विष्णु है हीरे जवाहरों से सजा-सजाया। फिर शंकर के गले में नाग आदि दिखाते हैं। ऐसे शंकर आदि कोई हो नहीं सकता। दिखाते हैं अमरनाथ पर शंकर ने पार्वती को अमर कथा सुनाई। अभी फिर सूक्ष्मवतन में तो मनुष्य सृष्टि है नहीं। तो कथा वहाँ कैसे सुनायेंगे? बाकी सूक्ष्मवतन का सिर्फ साक्षात्कार होता है। जो बिल्कुल पवित्र हो जाते हैं उनका साक्षात्कार होता है। यही फिर सतयुग में जाकर स्वर्ग के मालिक बनते हैं। तो बुद्धि में आना चाहिए कि इन्होंने फिर यह राज्य-भाग्य कैसे पाया? लड़ाई आदि तो कुछ होती नहीं है। देवतायें हिंसा कैसे करेंगे? अभी तुम बाप को याद कर राजाई लेते हो, कोई माने वा न माने। गीता में भी है देह सहित देह के सब धर्मों को भूल मामेकम् याद करो। बाप को तो देह ही नहीं है, जिसमें ममत्व हो। बाप कहते हैं-थोड़े समय के लिए इस शरीर का लोन लेता हूँ। नहीं तो मैं नॉलेज कैसे दूँ? मैं इस झाड़ का चैतन्य बीजरूप हूँ। इस झाड़ की नॉलेज मेरे ही पास है। इस सृष्टि की आयु कितनी है? कैसे उत्पत्ति, पालना, विनाश होता है? मनुष्यों को कुछ पता नहीं है। वह पढ़ते हैं हद की पढ़ाई। बाप तो बेहद की पढ़ाई पढ़ाकर बच्चों को विश्व का मालिक बनाते हैं।

भगवान कभी देहधारी मनुष्य को नहीं कहा जाता। इन्हों को (ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को) भी अपनी सूक्ष्म देह है इसलिए इन्हें भी भगवान नहीं कहेंगे। यह शरीर तो इस दादा की आत्मा का तख्त है। अकाल तख्त है ना। अभी यह अकालमूर्त बाप का तख्त है। अमृतसर में भी अकालतख्त है। बड़े-बड़े जो होते हैं, वहाँ अकालतख्त पर जाकर बैठते हैं। अभी बाप समझाते हैं यह सब आत्माओं का अकालतख्त है। आत्मा में ही अच्छे वा बुरे संस्कार होते हैं, तब तो कहते हैं यह कर्मों का फल है। सब आत्माओं का बाप एक ही है। बाबा कोई शास्त्र आदि पढ़कर नहीं समझाते हैं। यह बातें भी शास्त्रों आदि में नहीं हैं, तब तो लोग चिढ़ते हैं, कहते हैं यह लोग शास्त्रों को नहीं मानते। साधू-सन्त आदि गंगा में जाकर स्नान करते हैं तो क्या पावन बन गये? वापिस तो कोई जा नहीं सकते। सब पिछाड़ी में जायेंगे। जैसे मक्कड़ों का झुण्ड वा मक्खियों का झुण्ड जाता है। मक्खियों में भी क्वीन होती है, उनके पिछाड़ी सभी जाते हैं, बाप भी जायेंगे तो उनके पिछाड़ी सब आत्मायें भी जायेंगी। मूलवतन में भी जैसे सभी आत्माओं का झुण्ड है। यहाँ फिर है सभी मनुष्यों का झुण्ड। तो यह झुण्ड भी एक दिन भागना है। बाप आकर सभी आत्माओं को ले जाते हैं। शिव की बरात गाई हुई है। बच्चे कहो वा बच्चियाँ कहो। बाप आकर बच्चों को याद की यात्रा सिखलाते हैं। पवित्र बनने बिगर आत्मा घर वापिस जा नहीं सकती। जब पवित्र बन जायेंगी तो पहले शान्तिधाम में जायेंगी फिर वहाँ से आहिस्ते-आहिस्ते आते रहते हैं, वृद्धि होती रहती है। राजधानी बननी है ना। सभी इकट्ठे नहीं आते हैं। झाड़ आहिस्ते-आहिस्ते वृद्धि को पाता है ना। पहले-पहले आदि सनातन देवी-देवता धर्म है जो बाप स्थापन करते हैं। ब्राह्मण भी पहले-पहले वही बनते हैं जिन्हें देवता बनना है। प्रजापिता ब्रह्मा तो है ना। प्रजा में भी भाई-बहन हो जाते हैं। ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ तो यहाँ ढेर बनते हैं। जरूर निश्चयबुद्धि होंगे तब तो इतने ढेर मार्क्स लेते हैं। तुम्हारे में जो पक्के हैं वह वहाँ पहले आते हैं, कच्चे वाले पिछाड़ी में ही आयेंगे। मूलवतन में सभी आत्मायें रहती हैं फिर नीचे आती हैं तो वृद्धि होती जाती है। शरीर बिगर आत्मा कैसे पार्ट बजायेगी? यह पार्टधारियों की दुनिया है जो चारों युगों में फिरती रहती है। सतयुग में हम सो देवता थे फिर क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र बनते हैं। अभी यह है पुरूषोत्तम संगमयुग। यह युग अभी ही बनता है जबकि बाप आते हैं। यह अभी बेहद की नॉलेज बेहद का बाप ही देते हैं। शिवबाबा को अपने शरीर का कोई नाम नहीं है। यह शरीर तो इस दादा का है। बाबा ने थोड़े समय के लिए यह लोन लिया है। बाप कहते हैं हमको तुमसे बात करने के लिए मुख तो चाहिए ना। मुख न हो तो बाप बच्चों से बात भी न कर सके। फिर बेहद की नॉलेज भी इस मुख से सुनाता हूँ, इसलिए इसको गऊमुख भी कहते हैं। पहाड़ों से पानी तो कहाँ भी निकल सकता है। फिर यहाँ गऊमुख बना दिया है, उससे पानी आता है। उन्हें फिर गंगाजल समझ पीते हैं। उस पानी का फिर कितना महत्व रखते हैं। इस दुनिया में है सब झूठ। सच तो एक बाप ही सुनाते हैं। फिर वह झूठे मनुष्य इस बाप की नॉलेज को झूठ समझ लेते हैं। भारत में जब सतयुग था तो इसको सचखण्ड कहा जाता था। फिर भारत ही पुराना बनता है तो हर बात, हर चीज़ झूठी होती है। कितना फ़र्क हो जाता है। बाप कहते हैं तुम हमारी कितनी ग्लानी करते हो। सर्वव्यापी कह कितना इनसल्ट किया है। शिवबाबा को बुलाते ही हैं कि इस पुरानी दुनिया से ले चलो। बाप कहते हैं मेरे सभी बच्चे काम चिता पर चढ़कर कंगाल बन गये हैं। बाप बच्चों को कहते हैं तुम तो स्वर्ग के मालिक थे ना। स्मृति आती है? बच्चों को ही समझाते हैं, सारी दुनिया को तो नहीं समझायेंगे। बच्चे ही बाप को समझते हैं। दुनिया इस बात को क्या जाने!

सबसे बड़ा कांटा है काम का। नाम ही है पतित दुनिया। सतयुग है 100 परसेन्ट पवित्र दुनिया। मनुष्य ही, पवित्र देवताओं के आगे जाकर नमन करते हैं। भल बहुत भक्त हैं जो वेजीटेरियन हैं, परन्तु ऐसे नहीं कि विकार में नहीं जाते हैं। ऐसे तो बहुत बाल ब्रह्मचारी भी रहते हैं। छोटेपन से कभी छी-छी खाना आदि नहीं खाते हैं। सन्यासी भी कहते हैं निर्विकारी बनो। घरबार का सन्यास करते हैं फिर दूसरे जन्म में भी किसी गृहस्थी के पास जन्म ले फिर घरबार छोड़ जंगल में चले जाते हैं। परन्तु क्या पतित से पावन बन सकते हैं? नहीं। पतित-पावन बाप की श्रीमत बिगर कोई पतित से पावन बन नहीं सकते। भक्ति है उतरती कला का मार्ग। तो फिर पावन कैसे बनेंगे? पावन बनें तो घर जावें, स्वर्ग में आ जाएं। सतयुगी देवी-देवतायें कब घरबार छोड़ते हैं क्या? उन्हों का है हद का सन्यास, तुम्हारा है बेहद का सन्यास। सारी दुनिया, मित्र-सम्बन्धी आदि सबका सन्यास। तुम्हारे लिए अभी स्वर्ग की स्थापना हो रही है। तुम्हारी बुद्धि स्वर्ग तरफ है। मनुष्य तो नर्क में ही लटके पड़े हैं। तुम बच्चे फिर बाप की याद में लटके पड़े हो।

तुमको शीतल देवियाँ बनाने के लिए ज्ञान चिता पर बिठाया जाता है। शीतल अक्षर के अगेन्स्ट है तपत। तुम्हारा नाम ही है शीतलादेवी। एक तो नहीं होगी ना। जरूर बहुत होंगी, जिन्होंने भारत को शीतल बनाया है। इस समय सभी काम-चिता पर जल रहे हैं। तुम्हारा नाम यहाँ शीतला देवियाँ हैं। तुम शीतल करने वाली, ठण्डा छींटा डालने वाली देवियाँ हो। छींटा डालने जाते हैं ना। यह है ज्ञान के छींटे, जो आत्मा के ऊपर डाले जाते हैं। आत्मा पवित्र बनने से शीतल बन जाती है। इस समय सारी दुनिया काम चिता पर चढ़ काली हो पड़ी है। अब कलष मिलता है तुम बच्चों को। कलष से तुम खुद भी शीतल बनते हो और दूसरों को भी बनाते हो। यह भी शीतल बने हैं ना। दोनों इकट्ठे हैं। घरबार छोड़ने की तो बात ही नहीं, लेकिन गऊशाला बनी होगी तो जरूर कोई ने घरबार छोड़ा होगा। किसलिए? ज्ञानचिता पर बैठ शीतल बनने के लिए। जब तुम यहाँ शीतल बनेंगे तब ही तुम देवता बन सकते हो। अभी तुम बच्चों का बुद्धियोग पुराने घर की तरफ नहीं जाना चाहिए। बाप के साथ बुद्धि लटकी रहे क्योंकि तुम सबको बाप के पास घर जाना है। बाप कहते हैं-मीठे बच्चे, मैं पण्डा बनकर आया हूँ तुमको ले चलने। यह शिव शक्ति पाण्डव सेना है। तुम हो शिव से शक्ति लेने वाली, वह है सर्वशक्तिमान्। मनुष्य तो समझते हैं-परमात्मा मरे हुए को जिन्दा कर सकते हैं। परन्तु बाप कहते हैं-लाडले बच्चे, इस ड्रामा में हर एक को अनादि पार्ट मिला हुआ है। मैं भी क्रियेटर, डायरेक्टर, प्रिन्सीपल एक्टर हूँ। ड्रामा के पार्ट को हम कुछ भी चेंज नहीं कर सकते। मनुष्य समझते हैं पत्ता-पत्ता भी परमात्मा के हुक्म से हिलता है लेकिन परमात्मा तो खुद कहते हैं मैं भी ड्रामा के अधीन हूँ, इसके बंधन में बांधा हुआ हूँ। ऐसे नहीं कि मेरे हुक्म से पत्ते हिलेंगे। सर्वव्यापी के ज्ञान ने भारतवासियों को बिल्कुल कंगाल बना दिया है। बाप के ज्ञान से भारत फिर सिरताज बनता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सूर्यवंशी में पहले-पहले आने के लिए निश्चयबुद्धि बन फुल मार्क्स लेनी हैं। पक्का ब्राह्मण बनना है। बेहद की नॉलेज स्मृति में रखनी है।

2) ज्ञान चिता पर बैठ शीतल अर्थात् पवित्र बनना है। ज्ञान और योग से काम की तपत समाप्त करनी है। बुद्धियोग सदा एक बाप की तरफ लटका रहे।

वरदान:- चमत्कार दिखाने के बजाए अविनाशी भाग्य का चमकता हुआ सितारा बनाने वाले सिद्धि स्वरूप भव
आजकल जो अल्पकाल की सिद्धि वाले हैं वह लास्ट में ऊपर से आने के कारण सतोप्रधान स्टेज के प्रमाण पवित्रता के फलस्वरूप अल्पकाल के चमत्कार दिखाते हैं लेकिन वह सिद्धि सदाकाल नहीं रहती क्योंकि थोड़े समय में ही सतो रजो तमो तीनों स्टेजेस से पास करते हैं। आप पवित्र आत्मायें सदा सिद्धि स्वरूप हैं, चमत्कार दिखाने के बजाए चमकती हुई ज्योतिस्वरूप बनाने वाले हैं। अविनाशी भाग्य का चमकता हुआ सितारा बनाने वाले हैं, इसलिए सब आपके पास ही अंचली लेने आयेंगे।
स्लोगन:- बेहद की वैराग्य वृत्ति का वायुमण्डल हो तो सहयोगी सहज योगी बन जायेंगे।

TODAY MURLI 10 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 10 December 2019

10/12/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you receive might by linking your intellects in yoga with the Almighty Authority Father. It is by having remembrance that you souls can charge your batteries and become pure and satopradhan.
Question: What effort do you children make at the confluence age that rewards you with a deity status?
Answer: At the confluence age, you make the effort to become cool (serene). It is by becoming cool, by becoming pure, that you become deities. Until you become cool, you cannot become deities. At the confluence age, you become goddesses of coolness (Sheetladevi) and sprinkle everyone with cool drops of knowledge to make everyone cool. You first have to become cool yourself and then extinguish the fire of everyone else and make them cool.

Om shanti. First of all, you children just have to understand one thing: We are all brothers and Shiv Baba is the Father of us all. He is called the Almighty Authority. When you ruled over the whole world, you had all the powers. The kingdom of deities used to exist in Bharat. You were pure deities. All of your clan, that is, your whole dynasty, was viceless. Who were viceless? You souls. You are now, once again, becoming viceless. By having remembrance of the Almighty Authority, you are receiving might from Him. The Father has explained that it is you souls who each play a part of 84 births. You souls had satopradhan power; that gradually decreased day by day. From being satopradhan, you had to become tamopradhan. When the strength of a battery has run out, the motor comes to a halt; the battery becomes discharged. The battery of a soul doesn’t become fully discharged; there is some power left. When someone dies, a lamp is lit and kept filled with oil so that the light doesn’t go out. You children now understand that you souls had full strength and that you no longer have that. You must now keep your intellects in yoga with the Almighty Authority Father and fill yourselves with power, because you have very little power left. If your power were to end completely, your bodies would not remain. By remembering the Father, you souls become completely pure. In the golden age, your batteries are fully charged. Then your degrees, that is, the power of the batteries gradually discharges. By the time you souls reach the end of the iron age, you have very little power left. It is as though you are bankrupt and without strength. By remembering the Father, you souls become full of strength. Therefore, the Father explains: You must remember One alone. God is the Highest on High; everyone else is part of creation. A creation can only receive a limited inheritance from a creation. The unlimited Father is the only Creatorall other fathers are limited. By remembering the unlimited Father, you receive the unlimited inheritance. Therefore, you children should know in your hearts that Baba is establishing heaven, the new world, for us. Heaven is being established according to the dramaplan. It is you children who will go and rule there. I am everpure. I do not take birth through a womb. I do not take birth as the deities do. In order to give you children the kingdom of heaven, I enter the body of this one when he reaches 60, the age of retirement. Then, from being the number one tamopradhan soul, he becomes number one satopradhan. God is the Highest on High and then there are Brahma, Vishnu and Shankar who reside in the subtle region. Where did this Brahma, Vishnu and Shankar come from? Those are just visions that you have. The subtle region is in the middle. There are no physical bodies there. Those subtle bodies can only be seen in a divine vision. Brahma is the one dressed in white, whereas Vishnu is adorned with diamonds and jewels. They portray Shankar with a snake around his neck, but Shankar couldn’t be like that. At Amarnath, they portray Shankar telling Parvati the story of immortality. There is not a human world in the subtle region, so how could he relate a story there? The subtle region is simply for visions. You see visions of those who have become absolutely pure. They are the ones who then become the masters of heaven when they go to the golden age. Therefore, it should enter your intellects how they claimed their fortune of the kingdom. There are no battles etc. there. How could deities be violent? Whether anyone believes it or not, you are now claiming that kingdom by remembering the Father. It is mentioned in the Gita: Forget your body and all your bodily religions and constantly remember Me alone. The Father doesn’t have a body to which He could be attached. The Father says: I just take this body on loan for a short time. Otherwise, how would I give you this knowledge? I am the sentient Seed of this tree. Only I have the knowledge of this tree. People know nothing of the duration of this world or how it is created, sustained and destroyed. Their studies are limited. The Father teaches you this unlimited study and makes you children into the masters of the world. No bodily being can ever be called God. They (Brahma, Vishnu and Shankar) have their own subtle bodies, and they, too, cannot be called God. This body is the throne for Dada’s soul. This throne is now the immortal throne, the throne of the Father, the Immortal Image. There is a throne in Amritsar that is called the Immortal Throne. Important people are invited to sit on that Immortal Throne. The Father explains that this is the immortal throne of all souls. Good and bad sanskars are within each soul and this is why it is said: This is the fruit of your actions. The Father of all souls is one. Baba is not explaining to you from the scriptures. None of these things are mentioned in the scriptures. This is why people become irritated and ask us why we don’t believe in the scriptures. When sages, holy men and sannyasis etc. go to bathe in the Ganges, do they become pure? No one can return home yet. Everyone will return home at the end, just like a swarm of insects or a swarm of bees. There is the queen bee and all the other bees follow her. Likewise, when the Father returns home, all souls will follow Him. It will be as though there is a crowd of souls in the incorporeal world, whereas here, it is crowded with human beings. This crowd here will also have to run home one day. The Father will come and take all of you souls back with Him. There is the praise of Shiva’s wedding procession. Whether you are sons or daughters, the Father comes and teaches all of you children the pilgrimage of remembrance. Souls cannot return home without first becoming pure. After you have become pure, you will first go to your abode of silence and then go down gradually, numberwise. The world population will continue to grow. The kingdom has to be created. Therefore, not everyone will go down together, at the same time; the tree gradually continues to grow. The Father first of all establishes the original, eternal, deity religion. The first ones to become Brahmins are those who are to become deities. There is Prajapita Brahma (Father of People), and so there would also be brothers and sisters among the people. Many become Brahma Kumars and Kumaris here. It must definitely be because their intellects have faith that they are able to claim so many marks. Those of you who are firm will go there first and the weak ones will go later. All souls first reside in the incorporeal world and then, as they come down, the population grows. How could a soul play his part without a body? This is the world of actors, and it continues to turn through all four ages. In the golden age, we were deities, then we became warriors, merchants and then shudras. It is now the most auspicious confluence age. This age only exists now, when the Father comes. Only the unlimited Father gives this unlimited knowledge. Shiv Baba doesn’t have a body of His own that could be given a name. This body belongs to this Dada and Baba has taken it on loan for a short period. The Father says: I need a mouth so that I can talk to you. How could the Father talk to His children if He didn’t have a mouth? I give you unlimited knowledge through this mouth. This is why His mouth is called “Gaumukh” (mouth of the cow). Water can emerge from anywhere in the mountains, and so they have created a “Gaumukh” here where water emerges. They consider that to be the water of the Ganges and drink it. They give so much importance to that water. Everything in this world is false. Only the one Father tells you the truth. However, false people consider that Father’s knowledge to be false. When Bharat was in the golden age, it was called the land of truth. Now that Bharat has become old, everything has become false. There is such a great contrast! The Father says: You have defamed Me so much! You have insulted Me and defamed Me by calling Me omnipresent. You have been calling out to Shiv Baba: Take us away from this old world. The Father says: All of My children have become bankrupt by sitting on the pyre of lust. The Father speaks to you children and says: You were once the masters of heaven. Do you remember this? He only explains this to you children. He does not explain it to the whole world because only you children understand what the Father says. What would the world know about this? The biggest thorn is lust. The very name of this world is the impure world, whereas the golden age is the 100% per cent pure world. Human beings go and bow down in front of those pure deities. Although many devotees are vegetarians, it isn’t that they don’t indulge in vice. Many remain celibate from childhood and, from their childhood onwards, they don’t eat dirty food either. Sannyasis too say: Become viceless! Sannyasis renounce their homes and families; they then take their next birth to householders and they once again renounce their homes and families and go into the forests. However, would it be possible for them to become pure from impure? No; no one can become pure from impure without being given shrimat by the Purifier Father. The path of devotion is the path of descent, and so how could they become pure? If they did become pure, they would be able to go back home and then go to heaven. Do the golden-aged deities ever renounce their homes and families? The renunciation of sannyasis is limited whereas your renunciation is unlimited. You renounce the whole world including your friends and relatives. Heaven is now being established for you. Your intellects are now facing heaven. People are still dangling in hell whereas you children are dangling in remembrance of the Father. You are made to sit on the pyre of knowledge in order to become goddesses of coolness. In contrast to the word “cool”, there is the word “fire” (heat). You are called goddesses of coolness. There wouldn’t have been just one of you. There must definitely have been many who made Bharat cool. At present, everyone is burning on the pyre of lust. It is here that you are named goddesses of coolness. You are the goddesses who make everyone cool, the ones who sprinkle cool drops of knowledge on everyone. Devotees go to sprinkle drops of water, whereas it is drops of knowledge here that are sprinkled on souls. When souls become pure, they become cool. The souls of the whole world have now become ugly by sitting on the pyre of lust. You children are now being given the urn of nectar. With this urn, you become cool yourselves and you also make others cool. This one too has become cool. Both husband and wife live together. It is not a question of having to leave your home and family. However, when that cowshed was created at the beginning, some must definitely have left their homes. For what? In order to be able to sit on the pyre of knowledge and become cool. Only when you become cool here can you become deities there. The intellects’ yoga of you children should no longer go to your old homes. Your intellects should cling to the Father because you all have to go back home with the Father. The Father says: Sweet children, I have come as your Guide to take you all back home. You are the Shiv Shakti Pandava Army. You are the ones who receive might from Shiva, the Almighty Authority. People think that the Supreme Soul can restore life to dead people. However, the Father says: My beloved children, every soul has been given his own eternal part to play in this drama. I am the Creator, the Director and the Principal Actor. I cannot change anyone’s part in this drama at all. People believe that each leaf moves on the orders of the Supreme Soul. However, the Supreme Soul, Himself, says: I am also dependent on the drama, I am bound by it. It isn’t that leaves move according to My orders. The notion of omnipresence has made the people of Bharat totally poverty-stricken. Through the knowledge that the Father gives, Bharat once again becomes crowned. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to enter the sun dynasty at the beginning, let your intellect have faith and claim full marks. Become a firm Brahmin. Keep this unlimited knowledge in your consciousness.
  2. Remain seated on the pyre of knowledge and become cool, that is, become pure. Extinguish the fire of lust with knowledge and yoga. Your intellect must be constantly connected in yoga to the one Father.
Blessing: May you become an embodiment of success who creates sparkling stars of imperishable fortune instead of showing miracles.
Nowadays, some people have temporary powers, because they have come down from up above last. They have a satopradhan stage, as a result of their purity and show limited temporary miracles. However, that success does not last all the time because they pass through the three stages of sato, rajo and tamo in a short time. You pure souls are always embodiments of success and, instead of showing miracles, you make souls point-forms of sparkling light. You create sparkling stars of imperishable fortune and this is why everyone will come to take just a drop from you.
Slogan: Let there be an atmosphere of unlimited disinterest and you will become co-operative and easy yogis.

*** Om Shanti ***

TODAY MURLI 10 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 10 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 9 December 2018 :- Click Here

10/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, invent new methods for making service expand. Go and serve in every village. In order to do service, you need the enlightenment of knowledge.
Question: What is an easy way to continue to remove the old world from your intellect?
Answer: Repeatedly remember the home. Let it remain in your intellect that you have to settle your accounts with the land of death and go to the land of immortality. Become a beggar in relation to your body; even that body doesn’t belong to you. When you have such practice, you will forget the old world. While living in this old world, you have to make your stage very firm. Make effort to have a constant and stable stage.
Song: Mother o mother! You are the bestower of fortune for all.

Om shanti. There is a lot of praise of Jagadamba in Bharat. No one, except the people of Bharat, knows Jagadamba. They have heard the name of someone called Eve or Bibi. It is now in the intellects of you children that creation cannot be created without Bibi or the Master. Jagadamba definitely has to appear. She definitely did exist, for this is why she is remembered. There is a lot of praise of Bharat. They speak of heaven and they also know that Bharat is ancient. This is why there surely has to be heaven. No one, apart from you Godly children, can understand this. Only those who understood this in the previous cycle will continue to come. The exhibition is taking place. You understand that you also did this in the previous cycle. The words are very good for explaining to everyone! Pure souls receive the crown of light through their purity. Secondly, a charitable soul is one who makes donations and performs charity. In English, such a soul is called a philanthropist. Those who are pure are said to be viceless. There are different words. There are a lot of donations made and charity done in Bharat, but donations are generally made to gurus. They may be called pure souls, but they cannot be called charitable souls. They don’t make donations or perform charity; they accept donations and charity. In order for your intellects’ yoga to break away from all of them and be connected to the Father, the Father has to explain: That is not good. I come to uplift all of them. You are the Ganges of knowledge who have emerged from the Ocean of Knowledge. In fact, ‘Ganges’ is not the right word, but the memorial has continued and this is why the comparison has been made. The Father comes and makes the old things of the old world new. Heaven is something new. Only the Father knows the news of the new things. The world doesn’t know it. There are the versions of God, but, because Krishna’s name was inserted, the intellect’s yoga of everyone has broken away. This is why they have said that God is omnipresent. The intellect’s yoga of many is with Krishna. Wherever there is regard for the Gita, it is as though they also have regard for Krishna. In fact, they have put the hat of the Father’s praise on the child. This too is fixed in the drama. The Father comes and explains this. Baba has repeatedly explained to you why you should ask any people who come what their occupation is and what their relationship is with him (Krishna). Baba has had a good questionnaire made. Very good service can take place. Very good service can take place in the Jagadamba Temple. Go and explain to the people there: This is Jagadamba, the mother who creates the world. Which world does she create? She would surely create a new creation. Achcha, who is the Father of this mother? Who gave her birth? People don’t even understand the meaning of ‘mouth-born creation’. You know that the Supreme Father, the Supreme Soul, has given birth to her. You children have to explain that Jagadamba is a mouth-born creation, but how is she that? The Supreme Father, the Supreme Soul, is incorporeal and He explains through the body of Brahma. It is as though the Supreme Father, the Supreme Soul, has come and adopted Brahma and that He has adopted the daughter in the same way. These things don’t stay permanently in everyone’s intellect; you repeatedly forget. You children can do a lot of service. You should give the introduction in the Jagadamba Temple so that their intellects’ yoga can be connected to the Father. Jagadamba has yoga with Him and so we too should have yoga with Him. Jagadamba is sitting down below doing tapasya and her temple is up above. Down below, she is doing the tapasya of Raja Yoga and then she becomes a princess, a master of heaven, in the golden age. It is now the iron age. It is only when she sits in tapasya again that she can become a master of heaven again. All of this knowledge should remain in your intellects. People are given this true advice. You give each one’s introduction. However, this cannot sit in the intellect of everyone that quickly. It can only sit in their intellects when they engage themselves in service. Very good pictures have been created. You can also go to the Lakshmi and Narayan Temples and explain there. Baba says: Go and relate this to My devotees. You will definitely find devotees in the temples. Explain this picture of Lakshmi and Narayan to them with love. Everyone would say that they were the masters of heaven. Achcha, what is it now? It would surely be said to be the iron age now. In the iron age, there is nothing but sorrow, and so how did they receive the sovereignty? You know this and so you can tell everyone. When you explain to one, a whole gathering will gather there. Everyone will then ask you to go to them. Very big melas take place in the temples. You can also go the Rama Temple and tell them his occupation. You should explain to them tactfully, gradually. Some children also write: Baba, we have explained in this way. When you explain to one person, others will also then invite you and say: It would be good if these lectures continued in my home for seven days. Then others would emerge from there too. When anyone invites you, you should explain in such a way that they don’t leave you. When you give lectures, friends and relatives close by will also gather there. Growth takes place in this way. Not so many can come to the centres. This is a good method. You should make effort in this way. Hardly anyone knows the art of making effort for this. The enlightenment of knowledge is needed. Baba has come from so far away to teach us. If you don’t do service, how would you claim a high status? Children in schools are very clever and they have a lot of enthusiasm. This too is a study. This is a wonderful study. The young, the mature and old people all study here. The poor have an even better chance. In fact, even sannyasis are poor. So many wealthy people invite them to go to them. Sannyasis renounce their homes and become beggars. They don’t have anything with them. You too are now beggars and you then become princes. They are also beggars. There is the question of purity in this. You don’t have anything with you. You even forget your bodies. You renounce everything including your bodies and belong to the one Father. The more you remember the one Father, the more dharna there will be. You need to make effort to have constant dharna. We have to go to Baba and so why should we have thoughts of this old world? Until your stage becomes firm, you have to stay in this old world and in your old bodies. You now have to live at home with your families and remain pure. Your accounts with this land of death are now being settled and you have to go to the land of immortality. When you repeatedly remember the home, the old world will continue to be forgotten. Ask them: What did Baba say in the Gita? Explain that God is called Baba. Incorporeal Baba says: Constantly remember Me alone. Your sins will be absolved with the fire of yoga. Krishna cannot say this. The elevated versions of God are: Renounce this old world and your old body. Become soul conscious and constantly remember Baba. God is incorporeal. That soul takes a body and comes into ‘talkie . Baba doesn’t take a body by taking birth. He only has the one name, Shiva. There are the souls of Brahma, Vishnu and Shankar; they have their own subtle bodies. That One is always the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul and His name is Shiva. He alone is the Ocean of Knowledge. Brahma, Vishnu and Shankar are not called the Creator. Only the one incorporeal One is called the Creator. So, how does He then create the corporeal creation? He comes and speaks through Brahma. It cannot be Krishna who does this. They show the Vedas and scriptures in the hands of Brahma alone. It is remembered: Establishment takes place through Brahma. He tells us the essence of all the scriptures through Brahma. The Incorporeal speaks this through the corporeal. These things have to be imbibed very well. God speaks: I teach Raja Yoga. Establishment is needed before destruction. First of all, there is establishment. Continue to write this very clearly: Establishment of the sun-dynasty kingdom through Brahma. When it is written, the significance of it becomes very clear, but you have to make this effort and become busy in service. When you become busy in service, you will enjoy yourself. Mama and Baba also enjoy doing service. Children also have to do service. Mama would not be taken to the temples. There is great praise of Mama, but you children have to go there. Baba says: Go to those in their stage of retirement and ask them questions and then explain to them: Have you ever studied the Gita? Who is the God of the Gita? There is only one incorporeal God. A corporeal being cannot be called God. God is only One. You should churn the ocean of knowledge a lot to do service. If you want to practi s e this, you have to go and try it out. People go to have a glimpse of Jagadamba every day. People also go to the triveni of the rivers. If you go there and give lectures and do service, many will gather together. They will continue to give you invitations: Come to us and have these spiritual gatherings. Baba and Mama cannot go anywhere; children can go. You can also do a lot of service in the Kali Temple in Bengal. Who is Kali? Give a lecture on this topic. However, courage is needed. Baba knows who can explain this. What service would those who have body consciousness be able to do? They don’t give the proof of service. If you don’t do full service you defame Baba’s name. A yogi has very good power. Baba continues to give you many points for explaining to them. However, even very good maharathis forget them. There is a lot of service to do. This is called unlimited service. They then also receive a lot of respect. The main thing is purity. Some break while moving along. No one ever loses faith in his physical father. Here, you take birth to Baba. You then repeatedly forget such a Father because He is without an image. There is no image of such a Father. The Father says: Remember Me and become pure and you will come to Me. The soul understands that he has played a part for 84 births. Each one’s part is fixed in the soul. The part is not in the body. There is such a huge part recorded in such a tiny soul. There should be so much intoxication in your intellects. While fulfilling your responsibility of interaction with your worldly families, you can also do this service. The mother and father will not go anywhere. You children can go anywhere to do service. Only you children are called lucky stars. Achcha.

To the sweetest, beloved long-lost and now-found lucky stars of knowledge, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Renounce body consciousness and do service. Churn the ocean of knowledge and give the proof of doing unlimited service.
  2. All the old accounts with this land of death have to be settled. Continue to remove your old body and the old world from your intellect.
Blessing: May you be a karma yogi who gives the experience of a spiritual personality by remaining stable in a powerful stage while performing actions.
You children are not just workers, but are karma yogis who perform every act while being yogyukt. Let everyone experience from you that you work with your hands but while working, you are stable in a powerful stage. While you move along in an ordinary way or just stand somewhere, let your spiritual personality be experienced from a distance. Just as worldly personalities attract, similarly, your spiritual personality, your personality of purity and personality of a gyani and yogi soul will automatically attract others.
Slogan: Those who walk along the right path and show everyone the right path are true lighthouses.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 10 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 December 2018

To Read Murli 9 December 2018 :- Click Here
10-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – सर्विस की वृद्धि के नये-नये तरीके निकालो, गांव-गांव में जाकर सर्विस करो, सर्विस करने के लिए ज्ञान की पराकाष्ठा चाहिए”
प्रश्नः- बुद्धि से पुरानी दुनिया भूलती जाए – इसकी सहज युक्ति क्या है?
उत्तर:- घर को घड़ी-घड़ी याद करो। बुद्धि में रहे – अब मृत्युलोक से हिसाब-किताब चुक्तु कर अमरलोक जाना है। देह से भी बेगर, यह देह भी अपनी नहीं – ऐसा अभ्यास हो तो पुरानी दुनिया भूल जायेगी। इस पुरानी दुनिया में रहते अपनी परिपक्व अवस्था बनानी है। एकरस अवस्था के लिए मेहनत करनी है।
गीत:- माता ओ माता…….. 

ओम् शान्ति। जगत अम्बा की महिमा भारत में बहुत है। जगत-अम्बा को भारतवासियों के सिवाए कोई भी जानते नहीं। नाम सुना है जिसको ईव अर्थात् बीबी भी कहते हैं। अब तुम बच्चों की बुद्धि में है कि बीबी और मालिक के सिवाए रचना तो रची नहीं जा सकती। जरूर जगत अम्बा को प्रकट होना पड़े। जरूर थी तब तो गायन करते हैं। भारत की महिमा बहुत है। स्वर्ग भी कहते हैं और यह भी जानते हैं कि भारत ही प्राचीन था इसलिए जरूर हेविन होना चाहिए। यह तुम ईश्वरीय सन्तान बिगर कोई समझ न सके। जिन्होंने कल्प पहले समझा है वही आते रहेंगे। प्रदर्शनी चलती है। समझते हैं कल्प पहले भी की होगी। सबको समझाने के लिए अक्षर बहुत अच्छे हैं। पवित्र आत्मा, पवित्रता से तुम लाइट का ताज पाते हो। दूसरा पुण्य आत्मा उसको कहा जाता है जो दान-पुण्य करते हैं। उसको अंग्रेजी में फ्लैन्थ्रोफिस्ट भी कहा जाता है। पवित्र को वाइसलेस कहेंगे। अलग-अलग अक्षर हैं। भारत में दान-पुण्य होता तो बहुत है परन्तु अक्सर करके दान करते हैं गुरूओं को। अब उन्हें पवित्र आत्मा तो भल कहें परन्तु पुण्य आत्मा नहीं कह सकते। वह दान-पुण्य नहीं करते हैं वह तो दान-पुण्य लेते हैं। तो इन सबसे बुद्धियोग टूटकर बाप से जुट जाए, इसके लिए बाप को समझाना पड़ता है कि यह ठीक नहीं है। इन सबका उद्धार करने मैं आता हूँ। तुम ज्ञान सागर से निकली हुई ज्ञान गंगायें हो। वास्तव में गंगा अक्षर राइट नहीं है परन्तु गायन चला आता है इसलिए भेंट की जाती है। बाप आकर पुरानी दुनिया की पुरानी सब चीज़ों को नया बनाते हैं। स्वर्ग नई चीज़ है। नई चीज़ का समाचार बाप ही जानते हैं, दुनिया नहीं जानती।

भगवानुवाच है परन्तु गीता में कृष्ण का नाम डालने से सबका बुद्धियोग टूट गया है इसलिए सर्वव्यापी कह दिया है। कृष्ण के साथ बहुतों का बुद्धियोग है, जहाँ भी गीता का मान है तो जैसे कृष्ण का मान है। वास्तव में बाप के महिमा की टोपी बच्चे के ऊपर आ गई है। यह भी ड्रामा में नूँध है। यह बाप आकर समझाते हैं।

बाबा बार-बार समझाते हैं – जब कोई आते हैं तो हर एक का आक्यूपेशन पूछो इससे तुम्हारा क्या सम्बन्ध है? बाबा ने प्रश्नावली अच्छी बनाई है। सर्विस तो बहुत अच्छी हो सकती है। सर्विस तो जगत अम्बा के मन्दिर में बहुत अच्छी हो सकती है, वहाँ जाकर समझाओ कि यह है जगत अम्बा सृष्टि को रचने वाली माता। कौन-सी दुनिया रचती है? जरूर नई रचना रचेगी। अच्छा, इस माता का पिता कौन है? इनको जन्म किसने दिया? मनुष्य तो मुख वंशावली का अर्थ भी नहीं समझते हैं। तुम जानते हो इनको परमपिता परमात्मा ने जन्म दिया है। तुम बच्चों को ही समझाना पड़े। जगत अम्बा मुख वंशावली है परन्तु कैसे? परमपिता परमात्मा तो निराकार है, समझाया जाता है ब्रह्मा तन से। परमपिता परमात्मा ने आकर जैसे इस ब्रह्मा को एडाप्ट किया, वैसे बच्ची को भी किया। यह बातें सबकी बुद्धि में स्थाई नहीं ठहरती। घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं। बच्चे सर्विस तो बहुत कर सकते हैं। जगत अम्बा के मन्दिर में परिचय देना चाहिए। तो उन्हों का भी बुद्धियोग बाप से जुटे। जगत अम्बा भी उनसे योग लगाती है तो हम भी उनसे योग लगायें। नीचे जगत अम्बा तपस्या में बैठी है, उनका मन्दिर ऊपर है। नीचे राजयोग की तपस्या कर रहे हैं फिर राज-राजेश्वरी स्वर्ग की मालिक बनी सतयुग में। अभी है कलियुग। फिर से जब तपस्या में बैठे तब तो स्वर्ग के मालिक बने ना। तुम्हारी बुद्धि में यह सारा ज्ञान रहना चाहिए। यह सच्ची राय मनुष्यों को दी जाती है। तुम हर एक का परिचय देते हो। परन्तु सबकी बुद्धि में कोई जल्दी थोड़ेही बैठ सकता है। बैठे तब जब सर्विस में लग जायें। चित्र भी बहुत अच्छे बने हुए हैं। लक्ष्मी-नारायण के मन्दिर में जाकर समझा सकते हो। बाबा कहते हैं – मेरे भक्तों को सुनाओ। भक्त जरूर मन्दिर में ही मिलेंगे। उनको प्यार से समझाओ यह जो लक्ष्मी-नारायण के चित्र हैं, इनके लिए सभी कहेंगे यह स्वर्ग के मालिक थे। अच्छा, अब क्या है? जरूर कहेंगे कलियुग। कलियुग में दु:ख ही दु:ख है फिर इनको बादशाही कैसे मिली? तुम जानते हो तो सबको सुना सकते हो। एक को समझायेंगे तो सतसंग इकट्ठा हो जायेगा। फिर सब कहेंगे – हमारे पास आओ। मन्दिर में बड़ा मेला लगता है। राम के भी मन्दिर में जाकर उनका आक्यूपेशन बता सकते हो। आहिस्ते-आहिस्ते युक्ति से समझाना चाहिए। कई बच्चे लिखते भी हैं – बाबा, हमने ऐसे-ऐसे समझाया। एक को समझाने से फिर दूसरे निमंत्रण देते हैं। हमारे घर में भी सात रोज़ भाषण चले तो अच्छा है फिर वहाँ से और कोई निकलेगा। कोई भी निमंत्रण दे उनको ऐसा समझाना चाहिए जो छोड़े नहीं। भाषण करने से आस-पास वाले मित्र सम्बन्धी आदि भी इकट्ठे होंगे। ऐसे ही वृद्धि होती है। सेन्टर पर इतने नहीं आ सकते हैं। यह अच्छी युक्ति है। ऐसी मेहनत करनी चाहिए। मेहनत करने का ढंग मुश्किल किसको आता है। ज्ञान की पराकाष्ठा चाहिए। बाबा कितनी दूर से हमको सिखाने आया है। अगर सर्विस नहीं करेंगे तो ऊंच पद कैसे पायेंगे? स्कूल में बच्चे बहुत अच्छे चमत्कारी होते हैं, उछलते रहते हैं। यह भी पढ़ाई है, यह वन्डरफुल पढ़ाई है – इसमें बूढ़े, जवान, बच्चे सब पढ़ते हैं। गरीबों को और ही अच्छा चांस है। सन्यासी भी वास्तव में गरीब हैं। कितने बड़े-बड़े धनवान मनुष्य अपने पास बुलाते हैं। सन्यासियों ने घरबार छोड़ा बेगर हुए। कुछ भी उन्हों के पास नहीं है। तुम भी अभी बेगर हो फिर प्रिन्स बनते हो। वह भी बेगर हैं। इसमें पवित्रता की बात है। तुम्हारे पास और कुछ नहीं है। तुम देह को भी भूल जाते हो। देह सहित सब कुछ त्याग कर एक बाप के बनते हो। जितना एक बाप को याद करेंगे उतनी धारणा होगी। एकरस धारणा हो जाए उसके लिए मेहनत चाहिए। हमको बाबा के पास जाना है तो इस पुरानी दुनिया का ख्याल क्या रखें। जब तक परिपक्व अवस्था हो तब तक रहना इस पुरानी दुनिया, पुराने शरीर में है।

अब तुम्हें गृहस्थ व्यवहार में रहकर पवित्र बनना है। इस मृत्युलोक से हिसाब-किताब चुक्तू होता है। अब अमरलोक जाना है। घर को घड़ी-घड़ी याद करने से पुरानी दुनिया भूलती जायेगी। बोलो, गीता में बाबा ने क्या कहा है? भगवान् को बाबा कहा जाता है। निराकार बाबा कहते हैं – मामेकम् याद करो। योग अग्नि से तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। कृष्ण ऐसे नहीं कह सकते हैं। यह भगवान् के महावाक्य हैं कि इस पुरानी दुनिया और पुरानी देह को भी छोड़ो। देही-अभिमानी बनकर निरन्तर बाबा को याद करो। भगवान् है निराकार। आत्मा शरीर लेकर टॉकी बनती है। बाबा तो गर्भ से जन्म नहीं लेते। उनका नाम एक ही शिव है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर की आत्मायें हैं, उन्हें अपना सूक्ष्म शरीर है। यह है ही निराकार परमपिता परमात्मा। फिर उनका नाम है शिव। वही ज्ञान का सागर है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को रचता नहीं कहेंगे। रचयिता एक ही निराकार को कहा जाता है। वह फिर साकारी रचना कैसे रचे? तो ब्रह्मा द्वारा आकर समझाते हैं। कृष्ण तो हो न सके। ब्रह्मा के हाथ में ही वेद-शास्त्र दिखाते हैं। गाया भी हुआ है ब्रह्मा द्वारा स्थापना, ब्रह्मा द्वारा सभी शास्त्रों का सार सुनाते हैं। निराकार सुनाते हैं साकार द्वारा। यह बातें अच्छी रीति धारण करनी पड़े। भगवानुवाच – मैं राजयोग सिखलाता हूँ। विनाश के पहले स्थापना भी जरूर चाहिए। पहले-पहले है स्थापना। बड़ा ही क्लीयर लिखते रहते हैं। ब्रह्मा द्वारा सूर्यवंशी घराने की स्थापना। लिखत में बड़ा अच्छा राज़ है परन्तु जबकि कोई मेहनत कर और सर्विस में लग जाए। सर्विस में लग जाने से फिर मजा आयेगा। मम्मा-बाबा को भी सर्विस में मजा आता है। बच्चों को भी सर्विस करनी है, मम्मा को तो मन्दिर में नहीं ले जायेंगे। मम्मा की तो बड़ी महिमा है, बच्चों को तो जाना ही पड़े। बाबा कहते हैं वानप्रस्थियों के पास जाकर उन्हों से प्रश्न पूछो फिर समझाओ कि कभी गीता अध्ययन की है? गीता का भगवान् कौन है? भगवान् तो एक ही निराकार होता है। साकार को भगवान् नहीं कहेंगे। भगवान् एक है। इसमें सर्विस का बहुत विचार सागर मंथन चलना चाहिए। प्रैक्टिस करनी है तो बाहर जाकर ट्रायल करनी चाहिए। जगत अम्बा का दर्शन करने रोज़ आते हैं। त्रिवेणी पर भी मनुष्य बहुत जाते हैं। वहाँ भी जाकर सर्विस करे, भाषण करे तो ढेर आकर इकट्ठे होंगे। निमंत्रण देते रहेंगे – हमारे पास आकर सतसंग करो। बाबा-मम्मा तो कहाँ जा नहीं सकते, बच्चे जा सकते हैं। बंगाल में काली का मन्दिर है वहाँ भी बहुत सर्विस कर सकते हो। काली कौन है? इस पर भाषण करो। परन्तु हिम्मत चाहिए। बाबा जानते हैं कौन समझा सकते हैं? जिनमें देह-अभिमान है वह क्या सर्विस कर सकेंगे? सर्विस का सबूत नहीं देते। सर्विस अगर पूरी नहीं की तो नाम बदनाम करेंगे। योगी में बल बड़ा अच्छा रहता है। समझाने के लिए प्वाइन्ट्स बहुत देते रहते हैं। परन्तु अच्छे-अच्छे महारथी भी भूल जाते हैं। सर्विस तो बहुत है, इसको कहा जाता है बेहद की सर्विस फिर वह मान भी बहुत पाते हैं। मुख्य है पवित्रता की बात। चलते-चलते टूट पड़ते हैं। लौकिक बाप से कभी किसको भी निश्चय नहीं टूटता। यहाँ बाबा के पास जन्म लेते हैं। ऐसे बाप को फिर घड़ी-घड़ी भूल जाते हैं क्योकि विचित्र है ऐसे बाप का चित्र नहीं है। बाप कहते हैं मुझे याद करो और तुम पवित्र बनो तो मेरे पास आ जायेंगे। आत्मा समझती है – हमने ही 84 जन्मों का पार्ट बजाया है। आत्मा में पार्ट नूंधा हुआ है। शरीर में थोड़ेही पार्ट है। इतनी छोटी सी आत्मा में कितना भारी पार्ट है! यह बुद्धि में कितना नशा रहना चाहिए, व्यवहार के साथ-साथ यह सर्विस भी कर सकते हैं। माँ-बाप तो कहाँ भी नहीं जायेंगे। बच्चे कहाँ भी जाकर सर्विस कर सकते हैं। बच्चों को ही लकी स्टार्स कहा जाता है। अच्छा!

मीठे-मीठे ज्ञान लकी सितारों को मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) देह-अभिमान छोड़ सर्विस करनी है। विचार सागर मंथन कर बेहद की सर्विस का सबूत देना है।

2) इस मृत्युलोक से पुराने सब हिसाब-किताब चुक्तू करने हैं। पुरानी देह और पुरानी दुनिया को बुद्धि से भूलते जाना है।

वरदान:- कर्म करते शक्तिशाली स्टेज पर स्थित हो रूहानी पर्सनैलिटी का अनुभव कराने वाले कर्मयोगी भव
आप बच्चे सिर्फ कर्मकर्ता नहीं हो लेकिन योगयुक्त होकर कर्म करने वाले कर्मयोगी हो। तो आप द्वारा हर एक को यह अनुभव हो कि यह काम तो हाथ से कर रहे हैं लेकिन काम करते भी अपनी शक्तिशाली स्टेज पर स्थित हैं। चाहे साधारण रीति से चल रहे हैं, खड़े हैं लेकिन रूहानी पर्सनैलिटी का दूर से ही अनुभव हो। जैसे दुनियावी पर्सनैलिटी आकर्षित करती है, ऐसे आपकी रूहानी पर्सनैलिटी, प्योरिटी की पर्सनैलिटी, ज्ञानी वा योगी तू आत्मा की पर्सनैलिटी स्वत: आकर्षित करेगी।
स्लोगन:- सही राह पर चलने वाले तथा सबको सही राह दिखाने वाले सच्चे-सच्चे लाइट हाउस हैं।
Font Resize