10 august ki murli

TODAY MURLI 10 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 10 August 2020

10/08/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, to forget your original religion is the biggest mistake of all. You now have to become free from making mistakes. Remember your home and your kingdom.
Question: What stage of you children indicates that time is coming to an end?
Answer: When you children remain constantly intoxicated on the pilgrimage of remembrance and when the wandering of your intellects comes to an end, when you have the power of remembrance in your words and you stay in infinite happiness, when the scenes of your golden-aged world repeatedly appear in front of you, you can understand that that time is close. Destruction will not take long. Therefore, increase your chart of remembrance.
Song: Having found You, we have found the whole world; the earth and sky all belong to us.

Om shanti. You spiritual children understand the meaning of this song. You have now attained the unlimited Father. You receive your inheritance of heaven from the unlimited Father. No one can snatch this inheritance away from you. The intoxication of the inheritance disappears when Ravan’s kingdom begins. This too is predestined in the drama. You children have the knowledge of the world drama. How the world cycle turns can be called a play and also a drama. You children understand that the Father truly does come and explain the world cycle to you. He only explains to those who belong to the Brahmin clan. You children do not know your own births, and so I explain this to you. Previously, you used to hear that you would receive one human birth after taking 8.4 million births. It is not like that. Souls come down, numberwise. It is in your intellects that you were previously the worthy-of-worship souls of the original eternal deity religion and that you then became worshippers. It is remembered: You yourself are worthy-of-worship and you then become a worshipper. Human beings believe that it refers to God; that He becomes worthy-of-worship and a worshipper, that all of those are His forms. There are innumerable ideas and opinions. You are now following shrimat. You understand that you are students, that you didn’t know anything at first and that, by studying, you are now passing an important examination. Those students too don’t know anything at first. Then, when they have passed their examination, they understand that they have passed the examination to become a barrister. You too now understand that you are studying and changing from ordinary humans into deities and, in that, you are also becoming the masters of the world. There, there is just the one religion and one kingdom. No one can snatch your kingdom away from you. There, you have purity, peace, happiness and prosperity; you have everything. You just heard the song. You didn’t compose those songs. They have been composed by chance, according to the drama, for this particular time. The Father sits here and explains to you the meaning of the songs composed by human beings. You are now sitting here peacefully and claiming your inheritance from the Father. No one can snatch that away from you. For half the cycle you have the inheritance of happiness. The Father explains: Sweetest children, you experience happiness for more than half the cycle. Then the kingdom of Ravan begins. In the temples there are images where they show how the deities fell on to the path of sin. The costumes are the same; they change later on. Each king has his own costume, crown etc. You children now know that you are claiming your inheritance from Shiv Baba through Brahma. The Father says: Children, children. Children, you do not know your own births. It is souls that listen to this. I am a soul and not a body. All human beings take pride in the names of their bodies because they are body conscious; they don’t know at all that they are souls. They say that each soul is the Supreme Soul and that the Supreme Soul is each soul. The Father has explained to you souls that you are now becoming deities, the masters of the world. At this time you are given this knowledge of your becoming deities and then going into the warrior dynasty. There has to be the account of 84 births. Not everyone will take 84 births; souls do not come down all together. You know which religions come and when they come. The old history then becomes new. This is now the impure world. There, that is the pure world. Then the other religions come into existence. Here, on this field of action, there is just the one play. There are four main religions. The Father comes at this confluence age to establish the community of Brahma. They too have created a variety-form image, but there is a mistake in that one. The Father comes and explains everything and makes you free from making mistakes. The Father does not have a body of His own to take nor does He make mistakes. He comes here for a short time and enters this one’s chariot in order to show you children the path to the land of peace and your home. Not only does He show you the path, but He also makes each one’s life. You go home every cycle and you then come and play your parts of happiness. You children forgot that the original religion of us souls is peace. How can there be peace in this world of sorrow? You have now come to know all of these things. You also explain to everyone. Gradually, everyone will continue to come here. Those from abroad will come to know how the world cycle turns and how long its duration is. Foreigners will come to you and children will go there and explain the secrets of the world cycle. They believe that Christ went to God. They consider Christ to be the son of God. Some also believe that, having taken rebirth, Christ is now in a beggar form, just as you too are beggars. To be a beggar means to be tamopradhan. They believe that Christ is here, but they don’t know when he will come again. You can explain to them that the founder of that religion will come to establish his religion at his own time. He cannot be called a guru; he comes to establish a religion. The Bestower of Salvation is only one. All of those who come to establish a religion have been taking rebirth and have now become tamopradhan. At the end, the whole tree reaches the state of total decay. You now understand how the whole tree is standing here and that there is no foundation of the deity religion. (There is the example of the huge banyan tree). Only the Father sits here and explains these things to you children. You children should have a lot of happiness. You have come to know that you were deities and that you are now becoming those once again. You come here to listen to the story of the true Narayan through which you change from ordinary humans into Narayan. If someone becomes Narayan, there must definitely also be Lakshmi. If there are Lakshmi and Narayan, there must definitely be their kingdom too. They would not become Lakshmi and Narayan by themselves and be alone. There isn’t a separate story of becoming Lakshmi; as well as someone becoming Narayan, someone else becomes Lakshmi too. Sometimes, Lakshmi becomes Narayan and sometimes Narayan becomes Lakshmi. Some songs are very good. When Maya chokes you, listen to these songs and you will become very cheerful. When someone is learning to swim, he begins to choke at first, so they then have to catch hold of him. Here, too, many are choked by Maya. There are many who swim; they race. You are also racing to go to the other side. Constantly remember Me alone. When you don’t have remembrance, you choke. The Father says: It is only through this pilgrimage of remembrance that your boats will go across. Some swimmers are very clever and some less so. It is the same here. Some send their charts to Baba. Baba checks whether they have has understood about the chart of remembrance accurately or not. Some say that they stayed in remembrance for the whole of five hours throughout the day. I don’t believe it. There must definitely have been some mistake. Some think that for all the time they are studying here, their charts are also good for that length of time, but that is not so. The intellects of many who sit here to study are diverted outside somewhere or other. They don’t listen carefully. Such things also happen on the path of devotion. When a sannyasi relates a story, he stops and asks a listener what he was speaking about. When he sees that someone is sitting there like a crazy person (without concentration), he asks him. However, because the intellect of that person is wandering elsewhere, he is unable to reply to the sannyasi. They don’t listen to even one word. It is the same here. Baba continues to observe everything. He understands when the intellects of some are also wandering outside; they just continue to look here and there. Some new ones who come here are like that. Baba understands that they haven’t understood fully. This is why Baba says: Don’t give new ones permission to come here to class too soon. Otherwise, they will spoil the atmosphere. As you progress further, you will see that good children will go to Paradise whilst sitting here. They will have great happiness. They will go to Paradise over and over again. The time is now very close. Your stage will become like that, numberwise, according to your efforts. You will repeatedly see your palaces of heaven. Whatever you have to be shown, you will continue to have visions of those things. You can see that the time is now close. Just look how all the preparations are now being made. The Father says: Just see how all the human beings of the world are to be turned to dust in a second. As soon as a bomb is dropped, everything is destroyed. You children know that your kingdom is now being established. You now have to remain very intoxicated on the pilgrimage of remembrance. You have to fill yourselves with such power that you can strike the target of anyone with your drishti. At the end, you will be the ones who shoot the arrows of knowledge at Bhishampitamay etc. They will quickly understand that you are telling the truth. Only the Ocean of Knowledge, the Purifier, is the one incorporeal God. Krishna cannot be this. His birth has been shown. Krishna cannot receive those same features again. He will receive those same features again in the golden age. Everyone’s features are different in their different births. This part in the drama has been created in this way. Everyone there will have naturally beautiful features. Now, day by day, bodies too continue to become tamopradhan. At first, they are satopradhan, and then they go through the stages of sato, rajo and tamo. Just look what type of babies continue to be born. Some don’t have legs; some remain midgets. Just look how so many different things happen. Such things do not exist in the golden age. Deities there do not have beards etc.; they are all clean-shaven. You can tell whether they are male or female from their eyes and features. As you progress further, you will have many visions. You children should have so much happiness! Baba comes every cycle to teach you Raj Yoga and change you from ordinary humans into deities. You children also know that those of all the other religions will all go into their own sections. The tree of souls is shown. There will be many corrections made to the pictures. The pictures continue to be changed; for instance, the explanation given by Baba of the subtle region. Those with doubtful intellects say: What is this? Previously, you used to say this and you are now saying something else! The two forms of Lakshmi and Narayan have been combined and called Vishnu. However, there are no human beings with four arms. They show Ravan with ten heads. There are no such human beings. They burn an effigy of Ravan every year, just like a game of dolls. Human beings say that they cannot live without the scriptures, that the scriptures are their life. Look how much regard there is for the Gita! Here, you have a huge mountain of murlis. What are you going to do by keeping them? Day by day, you continue to listen to new points. Yes, it is good to note down the points. At the time of giving a lecture, you revise the various points you are to speak about. You should have a list of topics. Today, I will explain on this topic. Who is Ravan and who is Rama? What is the truth? I will explain all of this to you. At this time, Ravan’s kingdom covers the whole world; the five vices are in everyone. The Father comes and establishes the kingdom of Rama once again. This is a play about victory and defeat. Look how you are defeated by Ravan, the five vices! Previously, the family path was pure, but that has now become impure. Lakshmi and Narayan then become Saraswati and Brahma. The Father says: I enter this one’s body in the last of his many births. You say: I too am taking this knowledge from the Father after many births. All of these things have to be understood. Some have intellects that are dullheaded and so they don’t understand anything. A kingdom is being established. Many came and then left; they will come again. They will claim a status among the subjects worth a few pennies. They too are needed. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost, now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Always maintain the intoxication that you will complete this study and change from ordinary humans into deities, the masters of the world. There will be everything in your kingdom, purity, peace and happiness. No one can snatch that away from you.
  2. In order to go across from this side to that side, become a good swimmer on the pilgrimage of remembrance. Don’t allow Maya to choke you. Check yourself and write your chart of remembrance by first understanding it correctly.
Blessing: May you become multimillion times fortunate and experience a right to all attainments during this elevated time.
The fortunate children who take birth at this elevated time experience belonging as soon as they take birth with the touching of the previous cycle. They have a right to all the property as soon as they take birth. Just as a whole tree is merged in a seed, in the same way, souls who come at the number one time experience the treasures of all forms of attainment as soon as they come. They would never say that they experience happiness but not peace, or that they experience peace but not power. They are filled with all experiences.
Slogan: In order to give the experience of coolness under the shade of your happiness, become clean and humble.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 10 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

10-08-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – अपने स्वधर्म को भूलना ही सबसे बड़ी भूल है, अभी तुम्हें अभुल बनना है, अपने घर और राज्य को याद करना है”
प्रश्नः- आप बच्चों की कौन-सी अवस्था ही समय के समीपता की निशानी है?
उत्तर:- आप बच्चे जब याद की यात्रा में सदा मस्त रहेंगे, बुद्धि का भटकना बन्द हो जायेगा, वाणी में याद का जौहर आ जायेगा, अपार खुशी में रहेंगे, घड़ी-घड़ी अपनी सतयुगी दुनिया के नज़ारे सामने आते रहेंगे तब समझो समय समीप है। विनाश में टाइम नहीं लगता, इसके लिए याद का चार्ट बढ़ाना है।
गीत:- तुम्हें पाके हमने जहान पा लिया है……..

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चे इस गीत का अर्थ तो समझते होंगे। अब बेहद के बाप को तो पा लिया है। बेहद के बाप से स्वर्ग का वर्सा मिलता है, जिस वर्से को कोई भी छीन नहीं सकता। वर्से का नशा तब चला जाता है, जब रावण राज्य शुरू होता है। यह भी ड्रामा बना हुआ है। बच्चों को सृष्टि ड्रामा का भी ज्ञान है। यह चक्र कैसे फिरता है। इनको नाटक भी कहें, ड्रामा भी कहें। बच्चे समझते हैं बरोबर बाप आकर सृष्टि का चक्र भी समझाते हैं। जो ब्राह्मण कुल के हैं, उन्हों को ही समझाते हैं। बच्चे तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो, मैं तुमको समझाता हूँ। पहले तुम सुनते थे 84 लाख जन्म लेने बाद फिर एक जन्म मनुष्य का मिलता है। ऐसे नहीं है। अभी तुम सब आत्मायें नम्बरवार आती जाती हो। बुद्धि में आया है – पहले-पहले हम आदि सनातन देवी-देवता धर्म के पूज्य थे, फिर हम ही पुजारी बने हैं। आपेही पूज्य आपेही पुजारी – यह भी गायन है। मनुष्य फिर भगवान के लिए समझते हैं कि आपेही पूज्य आपेही पुजारी बनते हैं। आपके ही यह सब रूप हैं। अनेक मत-मतान्तर हैं ना। तुम अभी श्रीमत पर चलते हो। तुम समझते हो हम स्टूडेण्ट पहले तो कुछ नहीं जानते थे फिर पढ़कर ऊंच इम्तहान पास करते जाते हैं। वह स्टूडेण्ट भी शुरू में तो कुछ भी नहीं जानते हैं, फिर इम्तहान पास करते-करते समझते हैं कि अभी हमने बैरिस्टरी पास कर ली है। तुम भी अब जानते हो – हम पढ़कर मनुष्य से देवता बन रहे हैं सो भी विश्व के मालिक। वहाँ तो है ही एक धर्म, एक राज्य। तुम्हारा राज्य कोई छीन न सके। वहाँ तुमको पवित्रता-शान्ति-सुख-सम्पत्ति सब कुछ है। गीत में भी सुना ना। अब यह गीत तुमने तो नहीं बनाये हैं। अनायास ही ड्रामा अनुसार इस समय के लिए यह बने हुए हैं। मनुष्यों के बनाये हुए गीतों का अर्थ बाप बैठ समझाते हैं। अभी तुम यहाँ शान्ति में बैठ बाप से वर्सा ले रहे हो, जो कोई छीन न सके। आधाकल्प सुख का वर्सा रहता है। बाप समझाते हैं मीठे-मीठे बच्चों आधाकल्प से भी जास्ती तुम सुख भोगते हो। फिर रावण राज्य शुरू होता है। मन्दिर भी ऐसे हैं जहाँ चित्र दिखाते हैं – देवतायें वाम मार्ग में कैसे जाते हैं। ड्रेस तो वही है। ड्रेस बाद में बदलती है। हर एक राजा की अपनी-अपनी ड्रेस, ताज आदि सब अलग-अलग होते हैं।

अब बच्चे जानते हैं हम शिवबाबा से ब्रह्मा द्वारा वर्सा ले रहे हैं। बाप तो बच्चे-बच्चे ही कहते हैं। बच्चों तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो। सुनती तो आत्मा है ना। हम आत्मा हैं, न कि शरीर। और जो भी मनुष्य मात्र हैं उन्हों को अपने शरीर के नाम का नशा है क्योंकि देह-अभिमानी हैं। हम आत्मा हैं यह जानते ही नहीं। वह तो आत्मा सो परमात्मा, परमात्मा सो आत्मा कह देते हैं। अभी तुमको बाप ने समझाया है तुम आत्मा सो विश्व के मालिक देवी-देवता बन रहे हो। यह ज्ञान अभी है, हम सो देवता फिर क्षत्रिय घराने में आयेंगे। 84 जन्मों का हिसाब भी चाहिए ना। सब तो 84 जन्म नहीं लेंगे। सब इकट्ठे थोड़ेही आ जाते हैं। तुम जानते हो कौन से धर्म कैसे आते रहते हैं। हिस्ट्री पुरानी फिर नई होती है। अभी यह है ही पतित दुनिया। वह है पावन दुनिया। फिर दूसरे-दूसरे धर्म आते हैं, यहाँ कर्मक्षेत्र पर यह एक ही नाटक चलता है। मुख्य हैं 4 धर्म। इस संगम पर बाप आकर ब्राह्मण सम्प्रदाय स्थापन करते हैं। विराट रूप का चित्र बनाते हैं, परन्तु उसमें यह भूल है। बाप आकर सब बातें समझाए अभुल बनाते हैं। बाप तो न कभी शरीर में आते हैं, न भूल करते हैं। वह तो थोड़े समय के लिए तुम बच्चों को सुखधाम का और अपने घर का रास्ता बताने के लिए इनके रथ में आते हैं। न सिर्फ रास्ता बताते हैं परन्तु लाइफ भी बनाते हैं। कल्प-कल्प तुम घर जाते हो फिर सुख का पार्ट भी बजाते हो। बच्चों को भूल गया है – हम आत्माओं का स्वधर्म है ही शान्त। इस दु:ख की दुनिया में शान्ति कैसे होगी – इन सब बातों को तुम समझ गये हो। तुम सबको सम-झाते भी हो। आहिस्ते-आहिस्ते सब आते जायेंगे, विलायत वालों को भी मालूम पड़ेगा – यह सृष्टि चक्र कैसे फिरता है, इनकी आयु कितनी है। फारेनर्स भी तुम्हारे पास आयेंगे वा बच्चे वहाँ जाकर सृष्टि चक्र का राज़ समझायेंगे। वह समझते हैं कि क्राइस्ट गॉड के पास जाए पहुँचा। क्राइस्ट को गॉड का बच्चा समझते हैं। कई फिर यह समझते हैं कि क्राइस्ट भी पुनर्जन्म लेते-लेते अभी बेगर है। जैसे तुम भी बेगर हो ना। बेगर अर्थात् तमोप्रधान। समझते हैं क्राइस्ट भी यहाँ है, फिर कब आयेंगे, यह नहीं जानते। तुम समझा सकते हो – तुम्हारा धर्म स्थापक फिर अपने समय पर धर्म स्थापन करने आयेगा। उनको गुरू नहीं कह सकते। वह धर्म स्थापन करने आते हैं। सद्गति दाता सिर्फ एक है, वह जो भी धर्म स्थापन करने आते हैं वह सब पुनर्जन्म लेते-लेते अभी आकर तमोप्रधान बने हैं। अन्त में सारा झाड़ जड़जड़ीभूत अवस्था को पा लिया है। अभी तुम जानते हो – सारा झाड़ खड़ा है, बाकी देवी-देवता धर्म का फाउन्डेशन है नहीं। (बड़ का मिसाल) यह बातें बाप ही बच्चों को बैठ समझाते हैं। तुम बच्चों को तो बहुत खुशी होनी चाहिए। तुमको मालमू पड़ा है हम सो देवी-देवता थे फिर अब बनते हैं। यहाँ तुम आते ही हो सत्य नारायण की कथा सुनने, जिससे नर से नारायण बनेंगे। नारायण बनेंगे तो जरूर लक्ष्मी भी होगी। लक्ष्मी-नारायण होंगे तो जरूर उन्हों की राजधानी भी होगी ना। अकेले लक्ष्मी-नारायण तो नहीं बनेंगे। लक्ष्मी बनने की अलग कथा थोड़ेही है। नारायण के साथ लक्ष्मी भी बनती है। लक्ष्मी भी कभी नारायण बनती है। नारायण फिर कभी लक्ष्मी बनते हैं। कोई-कोई गीत बहुत अच्छे हैं। माया के घुटके आने पर गीत सुनने से हर्षितपना आ जायेगा। जैसे तैरना सीखना होता है तो पहले घुटके आते हैं फिर उनको पकड़ लेते हैं। यहाँ भी माया के घुटके बहुत खाते हैं। तैरने वाले तो बहुत होते हैं। उन्हों की भी रेस होती है तो तुम्हारी भी रेस होती है – उस पार जाने की। मामेकम् याद करना है। याद नहीं करते तो घुटका खाते हैं। बाप कहते हैं – याद की यात्रा से ही बेड़ा पार होगा। तुम उस पार चले जायेंगे। तारू (तैराक) कोई बहुत तीखे होते हैं, कोई कम। यहाँ भी ऐसे हैं। बाबा के पास चार्ट भेज देते हैं। बाबा जांच करते हैं। याद के चार्ट को यह राइट रीति समझते हैं या रांग समझते हैं। कोई-कोई दिखाते हैं – हम सारे दिन में 5 घण्टा याद में रहा। हम विश्वास नहीं करते, जरूर भूल हुई है। कोई समझते हैं हम जितना समय यहाँ पढ़ते हैं उतना समय तो चार्ट ठीक रहता है। परन्तु नहीं। बहुत हैं यहाँ बैठे हुए भी, सुनते हुए भी बुद्धि बाहर में कहाँ-कहाँ चली जाती है। पूरा सुनते भी नहीं हैं। भक्ति मार्ग में ऐसे-ऐसे होता है। संन्यासी लोग कथा सुनाते हैं फिर बीच-बीच में पूछते हैं, हमने क्या सुनाया? देखते हैं यह तवाई हो बैठा है तो पूछते हैं फिर बता नहीं सकते। बुद्धि कहाँ न कहाँ चली जाती है। एक अक्षर भी नहीं सुनते। यहाँ भी ऐसे हैं। बाबा देखते रहते हैं – समझा जाता है इनकी बुद्धि कहाँ बाहर भटकती रहती है। इधर-उधर देखते रहते हैं। ऐसे-ऐसे भी कोई-कोई नये आते हैं। बाबा समझ जाते हैं पूरा समझा नहीं है इसलिए बाबा कहते हैं नये-नये को जल्दी यहाँ क्लास में आने की छुट्टी न दो। नहीं तो वायुमण्डल को बिगाड़ते हैं। आगे चल तुम देखेंगे जो अच्छे-अच्छे बच्चे होंगे यहाँ बैठे-बैठे वैकुण्ठ में चले जायेंगे। बहुत खुशी होती रहेगी। घड़ी-घड़ी चले जायेंगे – अभी टाइम नजदीक है। नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार तुम्हारी अवस्था ऐसी हो जायेगी। घड़ी-घड़ी स्वर्ग में अपने महल देखते रहेंगे। जो कुछ बताना करना होगा उनका साक्षात्कार होता रहेगा। समय तो देख रहे हो। कैसे-कैसे तैयारियां हो रही हैं। बाप कहते हैं – देखना कैसे एक सेकण्ड में सारी दुनिया के मनुष्य खाक में मिल जायेंगे। बाम लगाया और यह खलास हुए।

तुम बच्चे जानते हो अभी अपनी राजाई स्थापन हो रही है। अभी तो याद की यात्रा में मस्त रहना है। वह जौहर भरना है जो कोई को भी दृष्टि से तीर लग जाए। पिछाड़ी में भीष्म पितामह आदि जैसे को तुमने ही ज्ञान के बाण मारे हैं। झट समझ जायेंगे, यह तो सत्य कहते हैं। ज्ञान का सागर पतित-पावन तो निराकार भगवान है। कृष्ण हो न सके। उनका तो जन्म दिखाते हैं। कृष्ण के वही फीचर्स फिर कभी मिल न सकें। फिर सतयुग में वही फीचर्स मिलेंगे। हर एक जन्म में, हर एक के फीचर्स अलग-अलग होते हैं। यह ड्रामा का पार्ट ऐसा बना हुआ है। वहाँ तो नैचुरल ब्युटीफुल फीचर्स होते हैं। अब तो दिन-प्रतिदिन तन भी तमोप्रधान होते जाते हैं। पहले-पहले सतोप्रधान फिर सतो-रजो-तमो हो जाते हैं। यहाँ तो देखो कैसे-कैसे बच्चे जन्म लेते हैं। कोई की टांग नहीं चलती, कोई जामड़े होते हैं। क्या-क्या हो जाता है। सतयुग में ऐसे थोड़ेही होता है। वहाँ देवताओं को दाढ़ी आदि भी नहीं होती। क्लीनशेव होती है। नैन-चैन से मालूम पड़ता है यह मेल है, यह फीमेल है। आगे चल तुमको बहुत साक्षात्कार होते रहेंगे। तुम बच्चों को कितनी खुशी होनी चाहिए। बाबा कल्प-कल्प आकर हमको राजयोग सिखलाए मनुष्य से देवता बनाते हैं। यह भी तुम बच्चे जानते हो कि और जो भी धर्म वाले हैं सब अपने-अपने सेक्शन में चले जायेंगे। आत्माओं का झाड़ भी दिखाते हैं ना। चित्रों में बहुत करेक्शन करते, बदलते जायेंगे। जैसे बाबा सूक्ष्मवतन के लिए समझाते हैं, संशय बुद्धि तो कहेंगे यह क्या! आगे यह कहते थे, अभी यह कहते हैं! लक्ष्मी-नारायण के दो रूप को मिलाकर विष्णु कहते हैं। बाकी 4 भुजा वाला मनुष्य थोड़ेही होता है। रावण के 10 शीश दिखाते हैं। ऐसे कोई मनुष्य होते नहीं। हर वर्ष बैठ जलाते हैं। जैसे गुड़ियों का खेल।

मनुष्य कहते हैं – शास्त्रों बिगर हम जी नहीं सकते। शास्त्र तो हमारे प्राण हैं। गीता का देखो मान कितना है। यहाँ तो तुम्हारे पास मुरलियों का ढेर इकट्ठा हो जाता है। तुम रखकर क्या करेंगे! दिन-प्रतिदिन तुम नई-नई प्वाइंट्स सुनते रहते हो। हाँ प्वाइंट्स नोट करना अच्छा है। भाषण करते समय रिहर्सल करेंगे। यह-यह प्वाइंट्स समझायेंगे। टॉपिक की लिस्ट होनी चाहिए। आज इस टॉपिक पर समझायेंगे। रावण कौन है, राम कौन है? सच क्या है, वह हम आपको बताते हैं। इस समय रावण राज्य सारी दुनिया में है। 5 विकार तो सबमें हैं। बाप आकर फिर रामराज्य की स्थापना करते हैं। यह हार और जीत का खेल है। हार कैसे होती है! 5 विकारों रूपी रावण से। आगे पवित्र गृहस्थ आश्रम था सो अब पतित बन गये हैं। लक्ष्मी-नारायण सो फिर ब्रह्मा-सरस्वती। बाप भी कहते हैं मैं इनके बहुत जन्मों के अन्त में प्रवेश करता हूँ। तुम कहेंगे हम भी बहुत जन्मों के अन्त में बाप से ज्ञान ले रहे हैं। यह सब समझने की बातें हैं। कोई की डलहेड बुद्धि है तो समझते नहीं हैं। यह तो राजधानी स्थापन हो रही है। बहुत आये फिर चले गये, वह फिर आ जायेंगे। प्रजा में पाई पैसे का पद पा लेंगे। वह भी तो चाहिए ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सदा इसी नशे में रहना है कि हम अभी यह पढ़ाई पूरी कर मनुष्य से देवता सो विश्व के मालिक बनेंगे। हमारे राज्य में पवित्रता-सुख-शान्ति सब कुछ होगा। उसे कोई छीन नहीं सकता।

2) इस पार से उस पार जाने के लिए याद की यात्रा में अच्छा तैराक बनना है। माया के घुटके नहीं खाने हैं। अपनी जांच करनी है, याद के चार्ट को यथार्थ समझकर लिखना है।

वरदान:- श्रेष्ठ वेला के आधार पर सर्व प्राप्तियों के अधिकार का अनुभव करने वाले पदमापदम भाग्यशाली भव
जो श्रेष्ठ वेला में जन्म लेने वाले भाग्यशाली बच्चे हैं, वह कल्प पहले की टचिंग के आधार पर जन्मते ही अपने पन का अनुभव करते हैं। वह जन्मते ही सर्व प्रापर्टी के अधिकारी होते हैं। जैसे बीज में सारे वृक्ष का सार समाया हुआ है ऐसे नम्बरवन वेला वाली आत्मायें सर्व स्वरूप की प्राप्ति के खजाने के आते ही अनुभवी बन जाते हैं। वे कभी ऐसे नहीं कहेंगे कि सुख का अनुभव होता, शान्ति का नहीं, शान्ति का होता सुख का व शक्ति का नहीं। सर्व अनुभवों से सम्पन्न होते हैं।
स्लोगन:- अपने प्रसन्नता की छाया से शीतलता का अनुभव कराने के लिए निर्मल और निर्मान बनो।

TODAY MURLI 10 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 10 August 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 9 August 2019:- Click Here

10/08/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have played all-round parts throughout the whole cycle. Your parts have now ended and you have to return home.
Question: With which words do you children praise your fortune?
Answer: We are Brahmins, the topknot. Incorporeal God sits here and teaches us. In the world, human beings teach human beings, whereas here, it is God Himself who teaches us, and so we are so fortunate.
Question: Who has the highest position in this drama?
Answer: The incorporeal Father. He is the Father of all you souls. All souls are bound by the thread of the drama. The Father’s position is the highest position of all.

Om shanti. The spiritual Father asks you spiritual children: Sweetest children, do you remember your home, the land of peace? You haven’t forgotten it, have you? The cycle of 84 has now ended. You have understood how it has ended. No one else from the golden age to the end of the iron age can ask this. Only the Father asks you sweetest, beloved children: Do you now want to go home? You have to go home and then go to the land of happiness. This is not the land of happiness. This is the old world, the land of sorrow, whereas that is the land of peace and the land of happiness. You now have to be liberated from this sorrow and return to the land of liberation. It is as though the land of liberation, that is, the land of peace, is just standing ahead of you. That is your home. Then you will go to the new world where there will only be purity, peace and happiness. You understand this. This is what people sing. People call out to the Father: O Purifier, take us away from this impure world! There is a lot of sorrow here! Take us into happiness! Do you remember this? Everyone remembers heaven. When someone sheds his body, they say that he has gone to heaven: “Left forthe heavenly abode.” Who left? The soul. The body doesn’t go anywhere. It is the soul that goes. Now, only you children know the land of peace and the land of happiness. No one else knows them. You children have the knowledgein your intellects of what the land of peace is and what the land of happiness is. You were in the land of happiness and are now in the land of sorrow. Secondsminutes, hours, days and years have passed by. Now, only a few more days of the 5000 years remain. The Father continues to remind you children. This is very easy. There is no need to be confused about this. No one even knows how a soul takes 84 births. It would be difficult for anyone to remember anything that was hundreds of thousands of years. This is a matter of 5000 years. Businessmen draw a swastika on their account books and call that Ganesh. Ganesh has also been shown with an elephant’s trunk. People spend money and draw pictures etc. but that is called a waste of time. You had so much strength. That has continued to be reduced day by day, just as petrol in a car continues to be used up. You have now become very weak. What was Bharat 5000 years ago? There was limitless happiness; there was such an abundance of wealth. How did they attain that kingdom? They had studied Raj Yoga. There is no question of a war in this. These are called the weapons of knowledge. There isn’t anything physical here; there are the weapons of knowledge. The weapons of gyan and vigyan – knowledge and remembrance – are so powerful. You rule the whole world. Deities are called non-violent. You children are now being given teachings to change from human beings into deities. You know that we claim this unlimited inheritance from the unlimited Father every 5000 years. This refers to souls. There is no question of a physical war etc. in this. Souls have become impure, and they therefore call out to the Father to become pure. The Father now says: Sweetest children, you now have to return home. This is the world of living beings and that is the world of souls. That cannot be called the world of living beings. You should repeatedly remember that you are residents of the faraway land. The home of us souls is Brahmand. It should remain in your intellects that you reside there, beyond this element of sky, where there is no sun or moon. We residents of that place have come here to play our parts. We play our parts for 84 births. Not everyone can take 84 births. Souls slowly continue to come down from up above. We are all-rounders. Those who do all types of work are called all-rounders. You too are all-rounders. Your parts exist from the beginning to the end. It is now the end of this cycle, but nevertheless, souls still continue to come down from up above. Many children still remain up there and they continue to come down. Growth continues to take place. The Father has explained to you children the meaning of “hum so”. Those people say that each soul is the Supreme Soul. They don’t know anything of the drama, its durationor its beginning, middle and end. The Father has explained to you: At present, you are Brahmins in those bodies. Shiv Baba has adopted you through Prajapita Brahma and is teaching you. You should at least remember this much: The Father is teaching us. He is God, the Highest on High. All souls are threaded in the thread of this drama. You now know that, in the beginning, you were deities, and that you then went into the warrior religion, that is, you went from the sun dynasty into the moon dynasty and you took that many births. You should know all of these things. At first, you didn’t have any of this knowledge. The Father has now explained to you that this is a somersault of the clans. From shudras, you have now become Brahmins. From Brahmins, you will then become deities. They show the variety-form image. You have all the knowledge in your intellects of how you came down and then came into the Brahmin clan and then went into the deity dynasty. You Brahmins are now the topknot. The topknot is the highest of all. Who else would be considered to have such a high clan as yours? God, the Father, has come and is teaching you. You are so fortunate. At least praise your fortune a little! Outside, it is all human beings who teach human beings. Here, it is the incorporeal Father. Every cycle that Father comes once and gives you knowledge. Everyone studies. Some study knowledge for becoming a barrister and become barristers. There, all are human beings who continue to teach human beings. These are the versions of God. Human beings can never be called God. That One is the Incorporeal. He comes here and teaches you children. A study is neither studied in the subtle region nor in the incorporeal world. Study takes place here. There is no need to be confused about this. Would students in a school ever say that they are confused or that they don’t have faith? They study and claim their status. How did Lakshmi and Narayan become the masters of the world at the beginning of the golden age? They definitely became that through the Father. The Father would tell the truth. God would not tell you anything wrong. This is a very important examination. At this time, it is the rule of people over people; there are no kings or queens. They used to exist in the golden age, but not now, at the end of the iron age. This is called the rule of the people. They have written about the Kauravas and the Pandavas in the Gita. However, you are spiritual guides. You show everyone the way to the spiritual home. That is the spiritual home of you souls. Souls take birth and play their parts. No one except you knows these things. None of the sages or holy men etc. know the Creator or the beginning, middle and end of creation. They speak of hundreds of thousands of years. However, that couldn’t be accounted for: it couldn’t be divided into half and half. There is a full half of the land of happiness and a full half of the land of sorrow. This is the impure, vicious world, whereas that is viceless. The Father is the Highest on High, but He is so ordinary! When people meet senior officers etc., they give them so much regard. In the impure world, impure human beings only see impure human beings. Pure ones are incognito. Externally, nothing is visible. The Father is called knowledge-full and blissful. The Father is full of everything. This is why He is called the Ocean of Knowledge. The praise of the position of each human being is separate. An adviser is called an adviser, a Prime Minister is called a Prime Minister. That One is God, the Highest on High. The highest position is that of the incorporeal Father whose children we all are. All of us reside there with the Father in the supreme abode. That is our home. Here, everyone has received his own individual part. Some even play parts for one birth and then go back home. The Father explains: This is the variety tree of the human world. No two can be the same. All souls are the same, but no two bodies are the same. They show plays in which they have two people with identical faces and there is confusion over which one is her husband. This is an unlimited play. No two can be the same here. Each one’s features are separate. Even though their ages may be the same, their features cannot be the same. The features continue to change in every birth. It is such an unlimited play. So, you should know it. You have the knowledge of the beginning, the middle and the end of the whole world in your intellects. Everyone would only play whatever their parts are in the drama. No one can be replaced in this drama. This is an unlimited drama. Souls continue to take birth. Each one’s features are different. There is such a variety of features. All of this knowledge is to be understood with your intellects. There are no books etc. here. Does the God of the Gita bring a book in His hands? He is the Ocean of Knowledge, He hasn’t brought a book. It is on the path of devotion that they write religious books. All of this is fixed in the drama. No two seconds can be the same. Everything has been explained to you children. When the cycle ends, it will then begin again. You are now studying. You now know the Father and creation. You have come here from the incorporeal world to play your parts. The stage is so big, no one can measure it; no one can reach the end of it. No one can reach the end of the ocean or the sky. This is why they are said to be infinite. Previously, they didn’t try to find out about these things so much, but now they do. Science also exists now. Then, when will it begin again? When it is in their parts. So, none of these things are mentioned in the scriptures. Instead of writing the name of the One who spoke the knowledge, they have inserted the name of the one who heard the knowledge. This one is an ugly soul whereas that One is the beautiful soul. The ugly soul listened to that One and became beautiful. You receive such an elevated status through knowledge. This is a Gita pathshala. Who is teaching you? God is teaching you Raj Yoga for the land of immortality. That is why this is called the story of immortality. He would definitely have told it at the confluence age. Those who studied it in the previous cycle will come and study it again and then claim their status, numberwise. How many times have you come here? Countless. When anyone asks when this play began, you say: It has continued eternally. There is no question of counting. There cannot even be the thought of asking. In the scriptures, there are all the stories of the path of devotion which they continue to read. Here, there are many languages, whereas in the golden age, there aren’t many languages. You are now establishing one religion, one language and one kingdom. Those people continue to give prizes to people who give advice for the establishment of peace. Shiv Baba advises you how to establish peace in the whole world. What prizewould you give Him? In fact, He is the One who gives you a prize; He doesn’t take one. These matters have to be understood. It was only yesterday when it was their kingdom. Now there isn’t even enough space to live in. There, there is no need to construct two or three-storey buildings. There is no need for wooden buildings etc. There, there are buildings of gold and silver. Buildings there are built very quickly with the force of science. Here, there is happiness as well as sorrow through science. The whole world is to be destroyed through it. This is called the fall of Pompei. There is so much pomp of Maya. It is as though this is heaven for wealthy people for this is why they don’t listen to you. Previously, you too didn’t know anything. The Father comes here and teaches you directly. Outside, it is the children who teach others. They also continue to remember their friends and relatives etc. The Father sits here and explains to you. Day by day, you will continue to become strong on the pilgrimage of remembrance and you won’t then remember anything else. You will just remember your home and the kingdom, you won’t remember your jobs etc. You will die instantly like people do through heart failure while just sitting somewhere. There will be no question of sorrow then. There won’t be any hospitals etc. Once you know the Father, you become the masters of heaven. You have this right. Not everyone has this right because not everyone will go to heaven. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become a spiritual guide and show everyone the way to the spiritual home. You have to rule the whole world with the weapons of knowledge and yoga. Become doubly non-violent.
  2. Those who play all-round parts of 84 births also have to become allrounders at this time. You have to do all types of work. Whilst observing the part of each and every actor in the unlimited variety drama, you have to remain cheerful.
Blessing: May you be a special soul and claim all rights by recognizing the Father with the power of discernment.
BapDada sees the speciality of every child. Even though they may not have become perfect and are effort-makers, there isn’t a single child who does not have even one speciality. The foremost speciality each of you has is that you are in the list of the handful out of multimillions. To recognize the Father and say, “My Baba” and claim all rights is the speciality of an intellect with the power of discernment. This elevated power has made you a special soul.
Slogan: The pen with which you can draw your line of elevated fortune is your elevated acts. Therefore, create as much fortune as you want.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 10 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 August 2019

To Read Murli 9 August 2019:- Click Here
10-08-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुमने सारे कल्प में आलराउन्ड पार्ट बजाया, अब पार्ट पूरा हुआ, घर चलना है”
प्रश्नः- तुम बच्चे अपने भाग्य की महिमा किन शब्दों में करते हो?
उत्तर:- हम हैं ब्राह्मण चोटी। हमें निराकार भगवान बैठ पढ़ाते हैं। दुनिया में मनुष्य, मनुष्य को पढ़ाते लेकिन हमें स्वयं भगवान पढ़ाते हैं तो कितने भाग्यशाली हुए।
प्रश्नः- इस ड्रामा में सबसे बड़ा पोजीशन किसका है?
उत्तर:- निराकार बाप का, वह तुम सब आत्माओं का बाप है। सब आत्मायें ड्रामा के सूत्र में बांधी हुई हैं। सबसे बड़ा पोजीशन बाप का है।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों से रूहानी बाप पूछ रहे हैं – मीठे-मीठे बच्चों, अपना घर शान्तिधाम याद है? भूल तो नहीं गये हो? अब 84 का चक्र पूरा हुआ, कैसे पूरा हुआ है यह भी तुम समझ गये हो। सतयुग से लेकर कलियुग अन्त तक ऐसे और कोई भी पूछ न सके। मीठे-मीठे लाडले बच्चों से बाबा पूछते हैं, अब घर चलना है ना? घर चलकर फिर सुखधाम में आना है। यह सुखधाम तो नहीं है। यह है पुरानी दुनिया, दु:खधाम। वह है शान्तिधाम, सुखधाम। अब इस दु:ख से मुक्त हो जाना है मुक्तिधाम। मुक्तिधाम अथवा शान्तिधाम जैसेकि सामने खड़े हैं। वह है घर। फिर तुम नये विश्व में आयेंगे, जहाँ पवित्रता, सुख, शान्ति भी होगी। यह तो समझते हैं ना – गाते भी यह हैं। बाप को भी पुकारते हैं – हे पतित-पावन, इस पतित दुनिया से हमको ले चलो, इसमें बहुत दु:ख हैं। हमको सुख में ले चलो। स्मृति में आता है। स्वर्ग को सब याद करते हैं। शरीर छोड़ा, कहेंगे स्वर्ग पधारा। लेफ्ट फॉर हेविनली अबोड। किसने लेफ्ट किया? आत्मा ने। शरीर तो नहीं जाता है। आत्मा ही जाती है। अभी तुम बच्चे ही शान्तिधाम, सुखधाम को जानते हो और कोई नहीं जानते। तुम बच्चों की बुद्धि में नॉलेज है – शान्तिधाम क्या है और सुखधाम क्या है। तुम सुखधाम में थे, अब फिर दु:खधाम में आये हो। सेकण्ड, मिनट, घण्टे, दिन, वर्ष बीत गये। अब 5 हज़ार वर्ष में बाकी कुछ दिन रहते हैं। बाप बच्चों को स्मृति दिलाते रहते हैं। बहुत सहज बात है, इसमें मूँझने की तो दरकार ही नहीं। आत्मा 84 जन्म कैसे लेती है, यह भी किसको पता नहीं है। लाखों वर्ष की बात तो किसको याद भी रहना मुश्किल है। यह है ही 5 हज़ार वर्ष की बात। व्यापारी लोग भी स्वास्तिका चौपड़े पर निकालते हैं, उसको गणेश कह देते हैं। गणेश को हाथी की सूँढ़ दिखाते हैं। मनुष्य पैसा खर्च करते हैं, चित्र आदि बनाते, इसको कहा जाता है वेस्ट ऑफ टाइम। तुम्हारे में कितनी ताकत थी। वह दिन प्रतिदिन कम होती गई है। जैसे मोटर से पेट्रोल कम होता जाता है। अब तो तुम बहुत कमज़ोर हो गये हो। पांच हज़ार वर्ष पहले भारत क्या था, अथाह सुख थे। कितना जबरदस्त धन था। यह राज्य उन्होंने कैसे पाया? राजयोग सीखे थे। इसमें लड़ाई आदि की बात ही नहीं। इनको कहा जाता है ज्ञान के अस्त्र-शस्त्र। और कोई स्थूल बात नहीं है। ज्ञान के अस्त्र-शस्त्र हैं। ज्ञान, विज्ञान, याद और ज्ञान के कितने बड़े जबरदस्त अस्त्र-शस्त्र हैं। सारे विश्व पर तुम राज्य करते हो। देवताओं को कहा जाता है अहिंसक।

अभी तुम बच्चों को मनुष्य से देवता बनने की शिक्षा मिल रही है। तुम जानते हो हम हर 5 हज़ार वर्ष के बाद बेहद के बाप से यह बेहद का वर्सा ले रहे हैं। यह आत्मा की बात है। इसमें स्थूल लड़ाई आदि की कोई बात नहीं। आत्मा पतित बनी है इसलिए वह पावन होने के लिए बाप को बुलाती है। अब बाप कहते हैं – मीठे-मीठे बच्चे, अब तो घर जाना है। यह है जीव आत्माओं की दुनिया। वह है आत्माओं की दुनिया। उसको जीव आत्माओं की दुनिया नहीं कहेंगे। यह घड़ी-घड़ी स्मृति में लाना चाहिए – हम दूर देश के रहने वाले हैं। हम आत्माओं का घर है ब्रह्माण्ड। यह भी बुद्धि में रहे हम वहाँ रहते हैं, इस आकाश तत्व से पार, जहाँ सूर्य-चांद भी नहीं होते। हम वहाँ के रहने वाले यहाँ पार्ट बजाने आये हैं। 84 का पार्ट बजाते हैं। सब तो 84 जन्म ले नहीं सकते। आहिस्ते-आहिस्ते ऊपर से उतरते आते हैं। हम आलराउन्डर हैं। सब काम करने वाले को आलराउन्डर कहा जाता है। तुम भी आलराउन्डर हो। आदि से अन्त तक तुम्हारा पार्ट है। अब इस चक्र का एन्ड है, तो भी ऊपर से आते रहते हैं। बहुत बच्चे रहे हुए हैं जो ऊपर से आते रहते हैं। वृद्धि को पाते रहते हैं।

बाप ने तुम बच्चों को ‘हम सो’ का अर्थ भी समझाया है। वह लोग तो कहते हम आत्मा सो परमात्मा हैं। उनको तो ड्रामा के आदि, मध्य, अन्त, ड्युरेशन आदि का भी कुछ पता नहीं है। तुमको बाप ने समझाया है इस शरीर में तुम अभी ब्राह्मण हो। प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा शिवबाबा ने तुमको एडाप्ट किया है, पढ़ाते हैं, यह तो याद रहना चाहिए ना। बाप हमको पढ़ा रहे हैं। वह ऊंच ते ऊंच भगवान है। सभी आत्मायें इस ड्रामा के धागे में पिरोई हुई हैं। अभी तुम जानते हो हम शुरू में देवता थे, फिर हम सो क्षत्रिय धर्म में आये अर्थात् सूर्यवंशी से चन्द्रवंशी में आये, इतने जन्म लिए – यह सब पता होना चाहिए। यह नॉलेज पहले तुम्हारे में बिल्कुल नहीं थी। अभी बाप ने समझाया है, यह वर्णों की बाजोली है। अभी फिर शूद्र से ब्राह्मण बने हो, ब्राह्मण से फिर देवता बनेंगे। विराट रूप दिखाते हैं ना। तुम्हारी बुद्धि में सारा ज्ञान है – कैसे हम नीचे उतरे फिर ब्राह्मण कुल में आये फिर डीटी डिनायस्टी में आये। अभी तुम ब्राह्मण हो चोटी। चोटी सबसे ऊंच होती है। तुम्हारे जैसा ऊंच कुल कौन कहलावे। भगवान बाप आकर तुमको पढ़ा रहे हैं। तुम कितने भाग्यशाली हो। अपने भाग्य की कुछ महिमा तो करो। बाहर में तो सब मनुष्य, मनुष्य को पढ़ाते हैं। यह तो है निराकार बाप। यह बाप कल्प-कल्प एक ही बार आकर नॉलेज देते हैं। पढ़ाई तो हर एक पढ़ते हैं ना। बैरिस्टर की नॉलेज पढ़कर बैरिस्टर बनते हैं। वह सब मनुष्य, मनुष्य को पढ़ाते आते हैं। अभी यह है भगवानुवाच। मनुष्य को तो कभी भगवान नहीं कहा जाता है। वह तो है निराकार। यहाँ आकर तुम बच्चों को पढ़ाते हैं। पढ़ाई न सूक्ष्मवतन में, न मूलवतन में पढ़नी होती है। पढ़ाई होती ही यहाँ है। इसमें मूँझने की तो कोई बात ही नहीं। स्कूल में कभी स्टूडेन्ट कहेंगे क्या कि हम मूँझते हैं। हमको निश्चय नहीं होता। पढ़ाई को पढ़कर अपना स्टेटस लेते हैं। यह लक्ष्मी-नारायण सतयुग आदि में विश्व के मालिक कैसे बने? जरूर बाप द्वारा बनें। बाप तो सच बतायेंगे। भगवान कोई रांग थोड़ेही बता सकते हैं। बड़ा भारी इम्तहान है। इस समय तो है प्रजा का प्रजा पर राज्य। राजा-रानी है नहीं। सतयुग में थे, अभी कलियुग अन्त में हैं नहीं। इसको कहा जाता है पंचायती राज्य। गीता में लिख दिया है – कौरव और पाण्डव। रूहानी पण्डे तो तुम हो ना। सबको रूहानी घर का रास्ता बताते हो। वह है तुम आत्माओं का रूहानी घर। रूह जन्म लेकर पार्ट बजाती है। यह बातें तुम्हारे सिवाए और कोई नहीं जानते। ऋषि-मुनि आदि कोई भी न रचता को, न रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानते हैं। लाखों वर्ष कह देते हैं। परन्तु उनका भी कोई पूरा हिसाब-किताब नहीं है। आधा-आधा भी हो न सके, पूरा आधा सुखधाम फिर पूरा आधा दु:खधाम। यह है पतित दुनिया विशश और वह है वाइसलेस।

बाप कितना ऊंच ते ऊंच है, परन्तु कितना साधारण है। कोई बड़े आदमी ऑफीसर्स आदि से मिलते हैं तो उनको कितना रिगार्ड देते हैं। पतित दुनिया में पतित मनुष्य ही पतितों का दीदार करते हैं। पावन तो हैं ही गुप्त। बाहर से दिखाई कुछ नहीं पड़ता है। बाप को कहा जाता है नॉलेजफुल, ब्लिसफुल। सब बातें बाप में फुल हैं इसलिए उनको ज्ञान का सागर कहा जाता है। हर एक मनुष्य के पोजीशन की महिमा अलग-अलग है। वजीर को वजीर, प्राइम मिनिस्टर को प्राइम मिनिस्टर कहेंगे। यह फिर है ऊंच ते ऊंच भगवान। सबसे बड़ा पोजीशन है निराकार बाप का, जिसके हम सब बच्चे हैं। वहाँ हम सब बाप के साथ परमधाम में रहते हैं। वह है घर। यहाँ सबको अपना-अपना पार्ट मिला हुआ है। कोई एक जन्म का भी पार्ट बजाकर वापस चले जाते हैं। बाप समझाते हैं यह मनुष्य सृष्टि का वैराइटी झाड़ है। एक न मिले दूसरे से। आत्मा तो एक जैसी है। बाकी शरीर एक न मिले दूसरे से। नाटक भी दिखाते हैं, जिसमें एक जैसी दो शक्ल बनाते हैं, जिसमें मूँझ जाते हैं कि पता नहीं हमारा पति यह है या यह? यह तो बेहद का खेल है। इसमें एक न मिले दूसरे से। हर एक के फीचर्स अलग-अलग हैं। आयु भल एक जैसी हो परन्तु फीचर्स एक जैसे हो न सकें। हर जन्म में फीचर्स बदलते जाते हैं। कितना बड़ा बेहद का नाटक है। तो उनको जानना चाहिए ना। सारे सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान तुम्हारी बुद्धि में है। हर एक का ड्रामा में जो पार्ट है, वही बजायेंगे। ड्रामा में कोई रीप्लेस हो नहीं सकता। बेहद का ड्रामा है ना। जन्म लेते रहते हैं। सबके फीचर्स अलग-अलग हैं। कितने वैराइटी फीचर्स हैं। यह नॉलेज सारी बुद्धि से समझने की है। कोई किताब आदि है नहीं। गीता का भगवान हाथ में गीता ले आता है क्या? वह तो ज्ञान का सागर है, पुस्तक थोड़ेही ले आया। पुस्तक तो भक्तिमार्ग में बनते हैं। तो यह सब ड्रामा में नूँध है। एक सेकण्ड न मिले दूसरे से। तुम बच्चों को तो सब समझा दिया है। चक्र पूरा हो फिर नये सिर शुरू होगा। अभी तुम पढ़ रहे हो। बाप को भी तुम जान गये हो। रचना को भी जान गये हो। मूलवतन से यहाँ आते हो पार्ट बजाने। स्टेज कितनी बड़ी है, इनका कोई माप नहीं हो सकता। कोई भी पहुँच नहीं सकते। सागर और आकाश का कोई अन्त नहीं पा सकते इसलिए बेअन्त गाया जाता है। आगे इतनी कोशिश नहीं करते थे, अभी कोशिश करते हैं। साइन्स भी अभी है, फिर कब शुरू होगी? जब उन्हों का पार्ट होगा। तो इतनी यह सब बातें शास्त्रों में थोड़ेही हैं। सुनाने वाले के बदले सुनने वाले का नाम डाल दिया है। यह काली आत्मा, वह गोरी आत्मा। काली आत्मा इनके द्वारा सुनकर गोरी बनी है। नॉलेज से कितना ऊंच पद मिलता है।

यह है गीता पाठशाला। कौन पढ़ाते हैं? भगवान राजयोग सिखाते हैं अमरपुरी के लिए इसलिए इसको अमरकथा भी कहा जाता है। जरूर संगमयुग पर ही सुनाई होगी। जिन्होंने कल्प पहले पढ़ा है, वही आकर फिर पढ़ेंगे और नम्बरवार पद पायेंगे। तुम यहाँ कितने बार आये हो? अनगिनत। कोई पूछे यह नाटक कब शुरू हुआ है? तुम कहेंगे यह तो अनादि चला आ रहा है। गिनती की बात हो नहीं सकती, पूछने का ख्याल भी नहीं आता।

शास्त्रों में सभी हैं भक्ति मार्ग की कहानियाँ, जो पढ़ते रहते हैं। यहाँ तो अनेक भाषायें हैं, सतयुग में अनेक भाषायें आदि होती नहीं। एक धर्म, एक भाषा, एक राज्य की तुम स्थापना कर रहे हो। वे लोग तो शान्ति स्थापन करने की राय देने वालों को प्राइज़ देते रहते हैं। शिवबाबा तुमको सारे विश्व में शान्ति स्थापन करने की राय देते हैं। उनको तुम क्या प्राइज़ देंगे? वह तो और ही तुमको प्राइज़ देते हैं। लेते नहीं। यह समझने की बातें हैं। कल की बात है, जबकि इन्हों का राज्य था। अभी तो रहने की जगह नहीं है। वहाँ तो दो-तीन मंजिल बनाने की भी दरकार नहीं रहती। लकड़े आदि की दरकार नहीं। वहाँ तो सोने-चांदी के मकान होते हैं। साइन्स के जोर से झट मकान बन जाते हैं। यहाँ तो साइन्स से सुख भी है, दु:ख भी है। इससे सारी दुनिया खलास हो जायेगी, इसको कहा जाता है फॉल ऑफ पाम्पिया। माया का कितना पाम्प है। साहूकारों के लिए तो जैसे स्वर्ग है इसलिए वह तुम्हारी बात भी नहीं सुनते। आगे तुम भी नहीं जानते थे। यहाँ तो बाप आकर डायरेक्ट तुमको पढ़ाते हैं। बाहर में तो फिर भी बच्चे पढ़ाते हैं। मित्र सम्बन्धी आदि भी याद आते रहते हैं। यहाँ तो बाप बैठ समझाते हैं। दिन-प्रतिदिन तुम याद की यात्रा में पक्के होते जायेंगे। फिर तुमको कुछ भी याद नहीं आयेगा। सिर्फ घर और राजधानी याद आयेगी। फिर यह नौकरी आदि याद नहीं आयेगी। मरेंगे ऐसे जैसे बैठे-बैठे हार्टफेल होते हैं। दु:ख की बात नहीं। हॉस्पिटल आदि तो कुछ भी नहीं होंगे। बाप को जान लिया और स्वर्ग के मालिक बनें। तुम्हारा तो हक है, सबका नहीं क्योंकि स्वर्ग में सब तो नहीं आयेंगे ना। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) रूहानी पण्डा बन सबको रूहानी घर का रास्ता बताना है। ज्ञान और योग के अस्त्र-शस्त्र से सारे विश्व पर राज्य करना है। डबल अहिंसक बनना है।

2) 84 जन्मों का आलराउन्ड पार्ट बजाने वालों को अभी आलराउन्डर बनना है। सब काम करने हैं। बेहद के वैराइटी ड्रामा में हर एक एक्टर का पार्ट देखते हुए हर्षित रहना है।

वरदान:- परखने की शक्ति द्वारा बाप को पहचानकर अधिकारी बनने वाले विशेष आत्मा भव
बापदादा हर बच्चे की विशेषता देखते हैं, चाहे सम्पूर्ण नहीं बने हैं, पुरुषार्थी हैं लेकिन ऐसा एक भी बच्चा नहीं जिसमें कोई विशेषता न हो। सबसे पहली विशेषता तो कोटो में कोई की लिस्ट में हो। बाप को पहचानकर मेरा बाबा कहना और अधिकारी बनना ये भी बुद्धि की विशेषता है, परखने की शक्ति है। इस श्रेष्ठ शक्ति ने ही विशेष आत्मा बना दिया।
स्लोगन:- श्रेष्ठ भाग्य की रेखा खींचने का कलम है श्रेष्ठ कर्म, इसलिए जितना चाहे उतना भाग्य बना लो।

TODAY MURLI 10 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 10 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 9 August 2018 :- Click Here

10/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, never let go of the hand of the Mother and Father from whom you receive your unlimited inheritance. If you leave your study you become like street orphans.
Question: What are the efforts of fortunate children? Say what indicates them.
Answer: Fortunate children make effort to remain soul conscious. They donate to others whatever they hear. They cannot stay without blowing the conch shell. Only when you donate can you imbibe. Fortunate children make first-class efforts in service day and night. They never have a “don’t care”attitude towards Dharamraj. If you simply eat good food, wear good clothes, don’t do service and don’t follow shrimat, Maya will make your condition very bad.
Song: No one is unique like the Innocent Lord.

Om shanti. The world doesn’t know that there is only the One who can put right that which has gone wrong. You children who are sitting here understand this. You also know, numberwise, according to the effort you make. It is Maya that spoils everything. Those who follow devilish directions are spoilt. You children now understand that Shiva is called the Innocent Lord. Shankar cannot be called the Innocent Lord. The Innocent Lord is the One who reforms that which has been spoilt. He is very innocent. He is the One who gives limitless treasures to the poor. He gives you children the knowledge of the beginning, the middle and the end. Pictures have been made of this. No one else explains that this is an inverted tree. God speaks: The knowledge of this tree and the drama is not written in any of the Vedas or scriptures. God alone has given it. It is His scripture that is also called the jewel of all scriptures, the Bhagwad Gita. The Supreme Father, the Supreme Soul, is such a sweet Baba, but Maya makes you forget Him. You try to remember Shiv Baba, but Maya is very powerful. She does not allow you to remember Him. Baba will now take you far away from this world of crying where you won’t need to cry for 21 births. You have been crying for 63 births; you wouldn’t say 84 births. Only you children know this. The Innocent Lord sits here and explains to you. You began to cry from the moment Ravan began to spoil everything. Big pictures of the tree and the cycle are made in order to explain to people because you can explain very clearly using big pictures. Some children are unable to imbibe that much because of their karma. However, not everyone will become a king or queen. When someone has performed good actions, he definitely receives the fruit of that in his future births. This is the philosophy of karma. The Father says: I know the philosophy of karma, neutral karma and sinful karma and I explain it to you. A teacher would teach everyone in the same way. Some pass with good marks whereas others fail. They would say: What can we do? The account of karma is such that we are unable to study. It is the same here. Some study very well whereas others leave the study and college. To leave college means to leave the Father, Teacher and Satguru. Those who leave college are said to be street orphans. Street orphans are those who don’t have parents. So, when you leave the Mother and Father from whom you receive the inheritance of heaven, you become like street orphans. Here, too, some think that they will leave here and go back to the old world. However, they won’t be able to take knowledge there. There, you will have dramas, films, sightseeing, touring around, wearing good clothes etc. Those who don’t have it in their fortune have such thoughts. Those who have non-loving intellects at the time of destruction go towards the old world. You know that the old world is going to end very soon. You are not going to take anything with you. You have to renounce that body consciousness. It is because of body consciousness that all the other vices come. It requires a lot of effort to become soul conscious. The Father says: Consider yourself to be a soul. I too have entered this body temporarily. We were deities and have now become shudras. We are making the world into heaven by following shrimat. You children are so fortunate. When Shiv Baba comes, He creates the Shakti Army of you mothers of Bharat. This is why your name is the Shiv Shakti Army. You are taking power (shakti) from Shiva and establishing your sovereignty. Shiv Baba is the Highest on High. The world is in complete darkness. You, too, are in the light, numberwise, according to the efforts you make. The lights of some are not ignited at all. That too is fixed in the drama. The lights of some are ignited and then Maya extinguishes them. While moving along, when there are storms of Maya, they become the same as they were before. In this world, some are very wealthy and others don’t even earn ten rupees. Some people are hardly able to get food; they cry out so much for food. Baba is enabling them, that is, the foreign countries to give help. People don’t know this. This too is a secret in the drama. The Father comes when you become very unhappy. If they didn’t receive inspiration, they wouldn’t help you. Your kingdom is not completely established yet. So this picture is for explaining to anyone. It is very important, just as you have maps, because you couldn’t tell where particular cities are without maps. These mapswon’t exist there. Here, Bharat is so large. In fact, Bharat should have the largest population. They need so much space to live here. There will be very few people in heaven. These things are in your intellects. When destruction takes place, very few of us will remain. There is the foundation of the tree and the tree later continues to grow. Then, numberwise, other trees also begin to grow. Amongst you, too, there are very few who understand these things and have the intoxication of becoming knowledgefull through Baba. Baba tells you very easily. He says: Simply pay attention to this world cycle – the world cycle and the conch shell. If you are not someone who blows the conch shell of knowledge, how could you be called a Brahmin who speaks the Gita? Those who relate the Gita are also numberwise. Those who are very clever scholars would have that intoxication. So many thousands of people sit there to listen to them. Everything of yours is new. They say: Their knowledge is neither that of the Hindus nor of the Muslims. You can’t tell where they got their knowledge from. Nevertheless, some think that Baba, the Innocent Lord, God, the Protector of the Devotees, the Purifier, has come. He definitely has to come. The Father says: There are also temples as memorials to Me. I have come to make impure ones pure. You children know that Baba has come and is explaining to us as He did 5000 years ago. You say: Baba, we also came here 5000 years ago and claimed our inheritance from You. So many children say this and so there is no question of blind faith. All of you say: Baba, we are Your grandchildren, the children of Brahma. When any of you are asked, you would say: Yes, the children of Shiv Baba are all brothers. Then, in the corporeal form, because we are the children of Brahma, we are brothers and sisters, Brahma Kumars and Kumaris. Therefore, this should remain in your intellects. We children of Brahma are Brahma Kumars and Kumaris and so there is no question of vice here. There is just this one clan. Prajapita Brahma is the creator. So all of these are definitely his people. Shiv Baba comes and makes you His children through Brahma. Therefore, He would definitely have come before the golden age. Those who become Brahmins and then deities would definitely remain pure. Those who become pure claim their fortune of the kingdom. Shiv Baba is creating this creation through Brahma. You know that we were at the confluence age 5000 years ago, that we are there now and will then become deities. There are no Brahma Kumars and Kumars in the golden age or the iron age; they only exist at the confluence age. Brahma Kumars and Kumaris are brothers and sisters; this is a method to remain pure. Those who don’t become pure cannot claim the kingdom of the world. Only Brahmins will become deities. The Father explains: Children, make effort and imbibe knowledge and inspire others to imbibe it. When you are worthy of becoming deities, destruction will take place. Destruction is just ahead. This will remain in the intellects of those who are good serviceable children. If you don’t donate anything, it doesn’t remain in your intellect. Some Brahma Kumars and Kumaris make very good first-class efforts. Some make second and third-class efforts and so they receive their rewards accordingly. Everyone says: Send us a firstclass Brahma Kumari. Where would we get so many of them from? Shiv Baba knows who is first class. He knows each one’s stage. Many daughters do very good service. Worldly brahmins are very interested in their food. They go to different places for their meals. Among the children too, there are some who aren’t able to rest if they don’t have good food. They defame the names of Mama and Baba. Then, when you explain to them, they become angry. There are some who even have a “don’t care” attitude towards Dharamraj. They become those who are amazed by knowledge and then run away. Maya makes their condition so bad that they don’t follow shrimat. Then they assault innocent ones so much, for vice. It is great fortune for those who are assaulted because they can at least claim their inheritance from the Father. Many are assaulted because those people cannot stay without vice. This is the world of degradation and no one can receive salvation here. No one knows the land of death or the land of immortality. The land of immortality is in the golden age where there is happiness from the beginning through the middle to the end. They show the Lord of Immortality telling Parvati the story of immortality. There is no need to listen to religious stories in the subtle region. So, where did those religious stories come from? He told the story of immortality, but where did He then go from the subtle region? They don’t know anything at all. Therefore, you should explain these things very clearly. There are many who tell these stories, so you should first listen to them and then explain to them. Eminent people go to see an effigy of Ravan on Dashera. Sensible people would wonder how monkeys could help Rama. They don’t understand anything at all. At this time, nations are fighting nations. Children of the one Christ are fighting among themselves. The Father says: This too is the destiny of the drama. The Father says: It is because you now know about the drama that you are making effort. You know that the play is now finishing and that you are to claim your inheritance from Baba. No one else has this secret of the drama in his intellect. Baba has come and explained all the secrets to you. The One who is teaching you is the Purifier Father. It is His greatness. Maya makes you degraded. The highest-on-high Father comes and makes you elevated. He says: Children, now listen to Me. Continue to make effort to renounce the awareness of your old bodies. You have now found the Husband of all husbands who gives you the sovereignty of heaven. There, you are completely viceless. This is the completely vicious world. The world is the same one. Those same completely viceless ones become completely vicious. At first Bharat was heaven and it is now hell. These pictures are very valuable. When you explain to those abroad and give them these pictures, they will say that these pictures are very good. Everything about how the world cycle turns and whose dynasty continues is all shown in these pictures. When you explain to anyone of any religion they will be happy. Yes, as you progress further, people will hear from each other that this is very good knowledge. When anyone sensible goes abroad, he can do very good service. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Whilst keeping the philosophy of action, neutral action and sinful action in your intellect, perform elevated actions. Never stop studying.
  2. You will only be able to imbibe knowledge by donating it. Therefore, you should definitely donate it. Never have a “don’t care” attitude towards the Father’s directions.
Blessing: May you use the method of paying attention and checking to finish any account of waste as a master almighty authority.
In Brahmin life, a lot of time is wasted on wasteful thoughts, wasteful words and wasteful deeds and you are not able to earn as much as you want. Any account of waste does not allow you to become powerful. Therefore, always maintain this awareness: “I am a master almighty authority”. If you have power, you can do whatever you want. You simply need to pay attention again and again. Just as you pay attention during class and at amrit vela, similarly, adopt the method of paying attention and checking every now and again and any account of waste will finish.
Slogan: In order to become a Raj rishi, make your stage free from obstacles with good wishes from Brahmin souls.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 10 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 August 2018

To Read Murli 9 August 2018 :- Click Here
10-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – जिस मात-पिता से तुम्हें बेहद का वर्सा मिलता है उस मात-पिता का हाथ कभी छोड़ना नहीं, पढ़ाई छोड़ी तो छोरा-छोरी बन जायेंगे”
प्रश्नः- खुशनसीब बच्चों का पुरुषार्थ क्या रहता, उनकी निशानी सुनाओ?
उत्तर:- जो खुशनसीब बच्चे हैं – वह देही-अभिमानी रहने का पुरुषार्थ करते हैं। जो सुनते हैं उसका औरों को दान देते हैं। वह शंखध्वनि करने बिगर रह नहीं सकते। धारणा भी तब हो जब दान करें। खुशनसीब बच्चे दिन-रात सेवा में फर्स्टक्लास मेहनत करते हैं। कभी भी धर्मराज से डोंट केयर नहीं रहते। सिर्फ अच्छा-अच्छा खाया, अच्छा-अच्छा पहना, सर्विस नहीं की, श्रीमत पर नहीं चले तो माया बहुत बुरी गति कर देती है।
गीत:- भोलेनाथ से निराला…….. 

ओम् शान्ति। बिगड़ी को सुधारने वाला तो एक ही है – यह दुनिया नहीं जानती। तुम बच्चे समझते हो, जो यहाँ बैठे हो। तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार जानते हैं। बिगाड़ने वाली है माया। आसुरी मत पर चलने वाले ही बिगड़ते हैं। अब तुम बच्चे जानते हो भोलानाथ शिव को ही कहा जाता है। शंकर को भोलानाथ नहीं कहते हैं। भोलानाथ उनको कहा जाता है जो बिगड़ी को बनाने वाला है, बड़ा भोला है, गरीबों को अखुट खजाना देने वाला है। बच्चों को आदि-मध्य-अन्त का ज्ञान देते हैं, जिसके यह चित्र बने हुए हैं। और कोई ऐसा नहीं समझाते कि यह उल्टा वृक्ष है। भगवानुवाच है कि इस झाड़ और ड्रामा का ज्ञान और कोई भी वेद शास्त्र में नहीं है। भगवान् ने ही दिया है। उनका ही शास्त्र है, जिसके लिए कहा जाता है सर्व शास्त्र शिरोमणी भगवत गीता।

परमपिता परमात्मा कितना मीठा बाबा है परन्तु उसकी याद माया भुला देती है। तुम शिवबाबा को याद करने की कोशिश करते हो, लेकिन माया बड़ी जबरदस्त है, वह तुमको याद करने नहीं देगी। अब बाबा तुमको इस रोने की दुनिया से दूर ले जाते हैं, जहाँ 21 जन्म तुमको रोने की दरकार ही नहीं रहती है। तुमने 63 जन्म तो रोया है। 84 जन्म नहीं कहेंगे। यह भी तुम बच्चे ही जानते हो। भोलानाथ बैठ समझाते हैं। जबसे रावण बिगाड़ना शुरू करते हैं, तब से तुम रोने लगते हो। मनुष्यों को समझाने के लिए ही यह बड़ा झाड़ और गोला बनवाया जाता है क्योंकि बड़े चित्रों पर अच्छी रीति समझाया जा सकता है। भल कोई बच्चे अपने कर्मों अनुसार इतना नहीं भी धारण कर सकते हैं। सभी तो राजा-रानी नहीं बनेंगे। अच्छे कर्म किये हैं तो उसका फल आगे जरूर मिलता है। कर्मों की गति है ना। बाप कहते हैं मैं कर्म-अकर्म-विकर्म की गति को जानता हूँ और समझाता हूँ। टीचर तो सभी को एक जैसा ही पढ़ाते हैं। फिर कोई अच्छे नम्बर से पास होते हैं, कोई नापास होते हैं। कहेंगे क्या करें, कर्मों का ऐसा ही हिसाब-किताब है जो हम पढ़ते नहीं। यहाँ भी ऐसा है। कोई तो अच्छा पढ़ते हैं, कोई तो पढ़ाई अथवा कॉलेज को ही छोड़ देते हैं। कॉलेज छोड़ा गोया बाप-टीचर-सतगुरू को छोड़ा। छोड़ने से छोरा बन जाते हैं। छोरा उनको कहा जाता है जिनके माँ-बाप नहीं होते हैं। तो मात-पिता, जिनसे स्वर्ग का वर्सा मिलता है उनको छोड़ा तो छोरा-छोरी बन जाते हैं। यहाँ भी कई समझते हैं – यहाँ से छूट पुरानी दुनिया में जायें। लेकिन वहाँ ज्ञान तो उठा नहीं सकते। वहाँ तो नाटक, बाइसकोप, घूमना-फिरना, अच्छा कपड़ा आदि मिलेगा। जिनकी तकदीर में नहीं है तो फिर ऐसे ख्यालात चलते हैं। विनाश काले विपरीत बुद्धि होती है तो फिर पुरानी दुनिया तरफ चले जाते हैं। तुम जानते हो पुरानी दुनिया तो जल्द ख़त्म होनी है। साथ में तो कुछ नहीं चलना है। तुमको इस देह-अभिमान को भी छोड़ना है। देह-अभिमान के कारण ही और सब विकार आते हैं। देही-अभिमानी बनने में बहुत मेहनत है। बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझो। मैं भी टैप्रेरी इस तन में आया हूँ। हम सो देवता थे, अब फिर हम सो शूद्र बने हैं। श्रीमत पर चल हम विश्व को स्वर्ग बनाते हैं। तुम बच्चे कितने खुशनसीब हो! जब शिवबाबा आते हैं तब तुम भारत माताओं को ही शक्ति सेना बनाते हैं इसलिए ही तुम्हारा नाम पड़ा है शिव शक्ति सेना। तुम शिव से शक्ति ले अपना स्वराज्य स्थापन कर रहे हो। ऊंच ते ऊंच है शिवबाबा। दुनिया तो बिल्कुल ही घोर अन्धियारे में है। तुम्हारे में भी नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार सोझरे में हैं। कोई-कोई की ज्योत जगती ही नहीं है। वह भी ड्रामा में नूँध है। किसी की ज्योत जगती भी है तो फिर माया बुझा देती है। चलते-चलते माया का तूफान लगने से फिर वैसे का वैसा बन जाते हैं। इस दुनिया में कोई तो बहुत साहूकार हैं, कोई 10 रूपया भी नहीं कमाते। कई मनुष्यों को भोजन भी मुश्किल से मिलता है। खाने के लिए कितना पुकारते हैं। बाबा उन द्वारा (विदेशों द्वारा) सहायता करवा रहे हैं। यह मनुष्य तो नहीं जानते। यह भी ड्रामा में राज़ है। तुम जब बहुत दु:खी होते हो तब बाप आते हैं। अगर उन्हों को प्रेरणा नहीं मिलती तो तुमको मदद नहीं करते। अभी तुम्हारी कम्पलीट राजधानी स्थापन नहीं हुई है।

तो यह चित्र हैं किसको समझाने के लिए। इनका बहुत महत्व है। जैसे मैप्स (नक्शे) होते हैं, मैप के सिवाए कैसे पता पड़े फलाना शहर कहाँ है। यह मैप्स वहाँ नहीं होंगे। यहाँ तो भारत कितना बड़ा है। वास्तव में भारत की सबसे जास्ती संख्या होनी चाहिए। तो रहने लिए कितनी जगह चाहिए। स्वर्ग में तो बहुत थोड़े रहेंगे। तुम्हारी बुद्धि में यह बातें हैं। विनाश होगा तो हम बाकी बहुत थोड़े रहेंगे। झाड़ का फाउन्डेशन है ना। फिर बाद में झाड़ वृद्धि को पाता रहेगा। फिर नम्बरवार और झाड़ लगते रहेंगे। तुम्हारे में भी बहुत थोड़े हैं जो इन बातों को समझते हैं और नशे में रहते हैं। हम बाबा द्वारा नॉलेजफुल बनते हैं। बाबा तो बहुत सहज बतलाते हैं। कहते हैं सिर्फ इस सृष्टि चक्र को ध्यान में रखो। सृष्टि चक्र और शंख। जो ज्ञान का शंख बजाने वाले नहीं होंगे तो उनको गीता सुनाने वाला ब्राह्मण कैसे कहेंगे? गीता सुनाने वाले भी नम्बरवार होते हैं। जो अच्छे पक्के विद्वान होंगे उन्हों को नशा रहेगा। कितने हजारों मनुष्य बैठ सुनते हैं। तुम्हारी तो हैं नई बातें। कहते हैं इन्हों का ज्ञान न हिन्दुओं का है, न मुसलमानों का है, पता नहीं कहाँ से लाया है। फिर भी कई तो समझते हैं ना – भोलानाथ बाबा, भक्तों का रक्षक भगवान्, पतित-पावन आया है। उनको आना जरूर है। बाप कहते हैं मेरी यादगार के भी मन्दिर हैं। मैं आया ही हूँ पतितों को पावन बनाने। यह तुम बच्चे जानते हो – बाबा आकर हमको 5 हजार वर्ष पहले समान समझा रहे हैं। तुम कहते हो – बाबा, हम भी 5 हजार वर्ष पहले आये थे, आपसे वर्सा लिया था। इतने ढेर बच्चे कहते हैं, इसमें अन्धश्रधा की कोई बात ही नहीं। सभी कहते हैं – बाबा, हम आपके पोत्रे, ब्रह्मा के बच्चे हैं। कोई से भी पूछो तो कहेंगे – हाँ, शिवबाबा के बच्चे तो सब भाई-भाई हैं। फिर साकार में ब्रह्मा की औलाद होने से बहन-भाई ब्रह्माकुमार-कुमारी हो गये। तो यह बुद्धि में रहना चाहिए। हम ब्रह्मा के बच्चे ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ ठहरे, इसमें विकार की कोई बात नहीं। एक ही कुल हो गया। प्रजापिता ब्रह्मा रचयिता है। जरूर यह प्रजा है ना। शिवबाबा आकर ब्रह्मा द्वारा बच्चे बनाते हैं, तो जरूर सतयुग के पहले आये होंगे। जो ब्राह्मण फिर देवता बनते हैं वह जरूर पवित्र रहेंगे। जो-जो पवित्र बनते हैं वह अपना राज्य-भाग्य लेते हैं। शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा यह रचना रच रहे हैं। तुम जानते हो हम 5 हजार वर्ष पहले भी संगम पर थे, अब भी हैं फिर हम देवता बनेंगे। सतयुग में वा कलियुग में कोई ब्रह्माकुमार-कुमारियां नहीं होते हैं, संगम पर ही होते हैं। ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ भाई-बहन बनते हैं – यह पवित्र रहने की युक्ति है। जो पवित्र नहीं बनते वह तो विश्व का राज्य ले न सके। ब्राह्मण ही देवता बनने वाले हैं। बाप समझाते हैं – बच्चे, पुरुषार्थ करके धारण करो और दूसरों को कराओ। जब देवता बनने लायक बन जायेंगे तब विनाश होगा। विनाश सामने खड़ा है। जो अच्छे सर्विसएबुल बच्चे हैं उन्हों की बुद्धि में ठहरता है। दान नहीं करते तो बुद्धि में ठहरता ही नहीं है। कई ब्रह्माकुमार-कुमारियां अच्छी फर्स्टक्लास मेहनत करते हैं, कोई सेकेण्ड, कोई थर्ड क्लास करते हैं, तो मिलेगा भी ऐसा ही। सभी कहते हैं हमको फर्स्टक्लास ब्रह्माकुमारी भेजो। अब इतनी कहाँ से लायेंगे? यह भी शिवबाबा जानते हैं कि फर्स्टक्लास कौन हैं? हर एक की अवस्था को जानते हैं। बहुत बच्चियाँ अच्छी सर्विस करती हैं।

ब्राह्मणों (लौकिक ब्राह्मण) को खाने का बहुत रहता है, जगह-जगह धामा खाते रहते हैं। बच्चों में भी कोई-कोई हैं, अच्छा भोजन न मिले तो आराम न आये। बाबा-मम्मा का नाम बदनाम कर देते हैं। फिर समझाओ तो गुस्सा आ जाता हैं। कई धर्मराज को भी डोंटकेयर करने वाले हैं। वह फिर आश्चर्यवत् भागन्ती हो जाते हैं। माया ऐसी बुरी गति करा देती है, जो श्रीमत पर नहीं चलते। फिर विकार के लिए अबलाओं पर कितने अत्याचार करते हैं। अत्याचार भी अहो सौभाग्य है। बाप से वर्सा तो ले लेंगे ना। बहुतों पर अत्याचार होते हैं क्योंकि विष बिगर रह नहीं सकते। यह है दुर्गति की दुनिया। इसमें किसकी सद्गति हो नहीं सकती। मृत्युलोक और अमरलोक को कोई नहीं जानते। अमरलोक सतयुग में है आदि, मध्य, अन्त सुख। दिखाते हैं अमरनाथ ने पार्वती को कथा सुनाई। अब सूक्ष्मवतन में तो कथा सुनने की दरकार नहीं। तो यह कथायें आदि कहाँ से आई? अमरकथा सुनाई फिर सूक्ष्मवतन से कहाँ गये? कुछ भी पता नहीं। तो इन बातों को अच्छी रीति समझाना चाहिए। कथा सुनाने वाले तो बहुत हैं, पहले उन्हों की बात सुनकर फिर समझाना चाहिए। दशहरे पर बड़े-बड़े आदमी रावण को देखने जाते हैं। सेन्सीबुल मनुष्य समझेंगे कि बन्दर कैसे राम को सहायता करेंगे? कुछ भी नहीं समझते। इस समय तो नेशन (देश), नेशन से लड़ते रहते हैं। एक क्राइस्ट के बच्चे आपस में लड़ते हैं। बाप कहते हैं यह भी ड्रामा की भावी है। ड्रामा का मालूम पड़ा है तब तो तुम अब पुरुषार्थ करते हो। जानते हो अब खेल पूरा होता है, बाबा से वर्सा लेना है। यह ड्रामा का राज़ और कोई की बुद्धि में नहीं हैं। बाबा ने आकर सब राज़ समझाये हैं। पढ़ाने वाला, पतित-पावन वह बाप है। बलिहारी उनकी है। माया नींच बनाती है। ऊंच ते ऊंच बाप ही आकर ऊंच बनाते हैं। कहते हैं – बच्चे, अब मेरे से सुनो, पुरानी देह का भान छोड़ने का पुरुषार्थ करते रहो। अभी तो तुमको पतियों का पति मिल गया है, जो स्वर्ग की बादशाही देते हैं। वहाँ है ही सम्पूर्ण निर्विकारी। यह है सम्पूर्ण विकारी दुनिया। दुनिया एक ही है। वही सम्पूर्ण निर्विकारी फिर सम्पूर्ण विकारी बनते हैं। पहले भारत स्वर्ग था, अब नर्क है। यह चित्र बड़े वैल्युबुल हैं। विलायत में कोई को समझाकर दो तो कहेंगे कि यह चीज़ तो बड़ी अच्छी है। कैसे सृष्टि का चक्र फिरता है, किस-किस की डिनायस्टी चलती है, सबके चित्र इनमें हैं। कोई भी धर्म वाले को समझाने से खुश होंगे। हाँ, आगे चल एक-दो से सब सुनेंगे – यह तो बहुत अच्छी नॉलेज है। विलायत में कोई सेन्सीबुल जाये तो बहुत सर्विस हो सकती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कर्म-अकर्म-विकर्म की गति को बुद्धि में रख श्रेष्ठ कर्म करने हैं। पढ़ाई कभी नहीं छोड़नी है।

2) ज्ञान दान करने से ही धारणा होगी इसलिए दान जरूर करना है। कभी भी बाप की आज्ञाओं को डोंटकेयर नहीं करना है।

वरदान:- अटेन्शन और चेकिंग की विधि द्वारा व्यर्थ के खाते को समाप्त करने वाले मा. सर्व-शक्तिमान् भव
ब्राह्मण जीवन में व्यर्थ संकल्प, व्यर्थ बोल, व्यर्थ कर्म बहुत समय व्यर्थ गंवा देते हैं। जितनी कमाई करने चाहो उतनी नहीं कर सकते। व्यर्थ का खाता समर्थ बनने नहीं देता इसलिए सदा इस स्मृति में रहो कि मैं मास्टर सर्वशक्तिमान हूँ। शक्ति है तो जो चाहे वो कर सकते हैं। सिर्फ बार-बार अटेन्शन दो। जैसे क्लास के समय वा अमृतवेले की याद के समय अटेन्शन देते हो, ऐसे बीच-बीच में भी अटेन्शन और चेकिंग की विधि अपना लो तो व्यर्थ का खाता समाप्त हो जायेगा।
स्लोगन:- राजऋषि बनना है तो ब्राह्मण आत्माओं की दुआओं से अपनी स्थिति को निर्विघ्न बनाओ।

TODAY MURLI 10 August 2017 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 10 August 2017

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Bk Murli 9 August 2017 :- Click Here

10/08/17
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, keep the vow of purity firm for as long as you live because this is your final birth. Become pure and go to the pure world.
Question: Which children does the Father love and have a right over?
Answer: The Father has the most love for those who study and teach others very well and who give the proof of that. Those who study well are the ones who will be threaded in the rosary.
Question: In order to attain a future deity status, what do you have to check in yourself?
Answer: Check which obstacles come when you are imbibing divine virtues. Find a way to remove those obstacles. Check yourself to what extent you have become pure. No thorn should create obstructions.
Song: Leave Your throne of the sky and come down to earth.

Om shanti. Devotees call out to God, that is, they call out to the Father. Why? Because they are unhappy. You understand that there is definitely going to be happiness after sorrow. There was happiness; it is no longer here. Therefore, people call out to Him to come and teach easy Raja Yoga. The Father who teaches it is definitely needed. The Father explains: I don’t take a body in the same way that you souls enter wombs and take bodies. I have to purify the impure and this is why I need a big body. I have to come to purify everyone. Maya, Ravan, has made you impure. Therefore, if you donate those five vices, the eclipse will be removed. The first main vice is body consciousness. Now consider yourselves to be soul conscious. I am speaking to you souls who are residing in bodies. I am giving you knowledge. I gave this knowledge 5000 years ago too. I taught Raja Yoga; I teach it every cycle. As soon as I come, My business is to purify the impure. The Father’s part is to come and purify you children. You know that you were pure deities and that you have to become pure again. Imbibe divine virtues! You will become the sun and moon dynasty princes and princesses in the future. This knowledge is for becoming future princes and princesses. So, you will become princes and princesses when you imbibe divine virtues. Check yourself as to whether you are imbibing them. What are the obstacles that come? Find a way to remove those obstacles. Attain your karmateet stage by having remembrance of the Father. Continue to move forward while removing the thorns that come in the way. Renounce body consciousness, become soul conscious and remember the Father. Your path will continue to become clear to the extent that you remember Him. While living at home with your family, live like a lotus. Never indulge in vice. The main thing is vice. Stop indulging in vice. No matter how many obstacles come, you definitely have to become pure. Women face more obstacles. They want to remain pure. They want to go to the land of Krishna. They rock Krishna with a lot of love on his birthday. They worship him and also hold a fast. That is a fast for just seven days. The Father says: You now have to make a vow of never indulging in vice. Observe the vow of purity for as long as you live. You know that this is now our final birth in this old world. It is not just our final birth, but the final birth of everyone in the world. You understand that we will now become pure and go to the pure world. Our next birth will be in the pure world. Those hatha yogi sannyasis don’t become pure with the thought that this is their final birth. Here, effort is required. While living together, never indulge in vice. Both have to make this vow. Innocent ones are assaulted so much. They call out. Men never call out: God, maintain my honour. It is the mothers who call out: Protect me from being stripped! Mothers call out to the Father: O Baba, save me from being stripped. These are the same things from the Bhagawad Gita, but it is just that they have put Krishna’s name by mistake. Krishna is not the Purifier. It is only the one Father who is the Purifier. You understand that beatings sometimes have to be tolerated in order to become pure. The same thing happened in the previous cycle and it is happening once again. There isn’t just one Draupadi; there are so many of you Draupadis. Many impure ones have to be purified. You mothers have become pure in order to become instruments to make others pure. You have to pay greater attention to the study. Uplift your equals. Sannyasis belong to the path of isolation. This is the family path. While living at home with your family, remain pure, study and teach others because you will claim a high status through this. The study is very easy. You have to explain why Bharat, that was like a diamond when it was the kingdom of Lakshmi and Narayan, has become so degraded. We will explain to you the unlimited history and geography. People aren’t even aware of what heaven will be like. No one knows that Lakshmi and Narayan, who were worthy of worship, have become worshippers. “Those who were worthy of worship became worshippers” does not apply to God. No one knows that those who were worthy of worship have become tamopradhan worshippers. Those who were worthy of worship must definitely have taken rebirth. The Father sits here and explains that those who go to the golden age have to take rebirth. We became the sun dynasty, then the moon dynasty and have now become the Brahmin dynasty and we will then become the deity dynasty. The Father has come and adopted this one and made him Brahma. Some may ask: How did you become this? Tell them: The Supreme Father, the Supreme Soul, has made us belong to Him through the mouth of Brahma. The Father alone purifies the impure. We now make a promise of purity. By remembering the Father, we become pure. Would the Father have mercy? He has mercy. He comes from the supreme abode to the impure world and enters an impure body. The Father says: I have now come. Therefore, study what I am teaching you. Remember Me and you will receive strength and your sins will be absolved. There is no question of blessings in this. Would you tell your teacher to have mercy so that you can pass with 100 marks? That One is also the unlimited Teacher. He is teaching you. What can He do if someone is unable to imbibe knowledge? If the Teacher were to have mercy on everyone, then everyone would pass. In that case, how would a kingdom be created? You children have to make effort. Follow the mother and Father! Remember the Father. There is no other way. Otherwise, why do you call out to the Father? All the sages and holy men say: Come and liberate us from sorrow! There will be great calamities when destruction begins. They will then understand that that same God is here in an incognito form. If it were Krishna, drums would be beaten throughout the whole world. Krishna cannot come here. The Father has to come. The Father has to speak knowledge till the end. He comes here in an incognito form. It cannot be Krishna. The incorporeal Father of all is One. He has come to purify the impure and to give them their inheritance. It is also your duty to tell everyone. You have to ask: What is your relationship with the Supreme Father, the Supreme Soul? The Father has so many children. The direction of the Supreme Father, the Supreme Soul, is: Firstly, remember Me and study well. Remember Baba very well and claim an elevated inheritance. He continues to explain unlimited history and geography to you children. You can also explain using the pictures. Bharat was crowned in the golden age. Sun-dynasty deities used to rule, and it then became the kingdom of the moon dynasty and the degrees continued to decrease. You also have to see that if you study well you will also learn. If you don’t study you will fail. Who will caution you? Nowadays, Maya makes you very careless. Truth cannot be hidden here. Anyone who performs sinful acts will continue to accumulate that karma. Sin and charity are definitely accumulated. It is according to these that you receive your next birth. If you perform sinful acts, you will receive a birth accordingly. This is why the Father says: If you perform any sinful action, instantly tell Baba. Don’t think that God knows everything. You have to tell the Father. The soul knows all the sins he has committed in this birth. The soul remembers everything he has done. Tell BapDada what you have done. The main thing is vice. To steal or cheat are small things. The main thing is the matter of vice. Lust is a great enemy. Those who indulge in vice are called impure. You first have to conquer those vices. Your enemy is Ravan who makes you impure. Now, in order to become pure, remember the Father. If you belong to the Father and then indulge in vice, you will be hurt a great deal. First of all, renounce body consciousness. Lust is a great enemy. The whole war is over this. Therefore, understand all of these things and then explain to others. Baba will ask: To how many have you related the true Gita, the story of the true Narayan and the story of immortality? There are many sinful souls. So, show this chart of yours so that Baba can understand that you have become Brahmins. How many have you made similar to yourselves? These are things of easy Raja Yoga. Give the Father’s introduction. No one in the world knows this. The Father continues to receive a certificate from many. They write: So-and-so explained to me in this way, and that one was my instrument guru to make me into a master of heaven. BKs give the proof, but do those who become this explain to anyone else? Do they bring others here? They have to bring others here. Those who have faith will instantly say: First of all, let them go into the Father’s lap. When Christian s have a baby, they have that baby christened. We too should become God’s adopted children. We should go into the lap of the Satguru. We are adopted by Him and we meet the Father and so this is our inheritance. Hardly anyone emerges with this much intoxication. You have to explain. As you make further progress, people will understand very well. You will have this strength. You will not then be able to stay without meeting the Father; you will instantly run to Him.

[wp_ad_camp_5]

 

He is the Mother and Father, the Teacher and also the Guru. Become adopted by the Mother and Father! Those people go to their gurus, but they don’t receive the sovereignty of heaven from them. The sovereignty is received from the Father and the Father is also the Teacher and the Guru. So, why not claim the inheritance from all three? This is a wonder, is it not? You wouldn’t say that Krishna is the Father, Teacher and Guru. Krishna is just a young prince. You children here have in your intellects that that One is the Father, the Teacher and the Guru. He doesn’t have a father, teacher or guru of His own. Krishna had a mother and father. The Purifier is the one Father. Someone who has a mother and father cannot be the Purifier. Such a soul cannot be called God. God doesn’t have a mother or father. God, the Father , doesn’t have a father. Only God, the Father, can be called the Purifier and the Liberator. There is no one to liberate Him. This is the task of the Father alone. Human beings cannot be called God. It is the Father, the Creator, who creates Brahma, Vishnu and Shankar. God is remembered as the Highest on High. He is the Father of all of us. Krishna would not be called the Father of everyone. We are all the children of the one incorporeal Father. He is the Creator of the new world. The new world is called the land of happiness. Then, from new, it becomes old. This is Ravan’s kingdom. People burn an effigy of Ravan, but they don’t understand anything. They don’t understand the meaning of all the festivals that they celebrate. The Father explains: This is the last of your many births. It is now also the end of Ravan. You will not create his effigy in the golden age. What type of enemy is this that they continue to burn him? When was he born? No one knows. They celebrate the birthday of Shiva, so they should also celebrate the birthday of Ravan. They don’t understand anything. Everything is explained to you. These things are the detail. Your intellects have to imbibe these. What will you study if you don’t come to class? If you don’t study and teach others, what status would you claim? A good child is one who studies and teaches others and gives the proof of that. All are children. You have to understand that if you serve many and make many others similar to yourself, you will receive love from the Father. The Father continues to give you love. Children, study well. There is a type of parrot that learns everything and has a rosary (band of colour) around its neck. It is the same here. Those who study well will be threaded in the rosary. If you don’t study, it is as though you are uneducated. In that case, you cannot become part of the rosary of victory. You children have to study well and also teach others. This is the true story which only the true Father tells you. He establishes the land of truth. They never tell lies in the kingdom of Lakshmi and Narayan. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. While living at home with your family, live like a lotus. Definitely observe the vow of purity for as long as you live.
  2. Instead of asking for mercy, follow the mother and Father. Study with attention and also teach others.
Blessing: May you apply a tilak of victory on your forehead at amrit vela and become a master of the self and so a world sovereign.
Every day at amrit vela, apply a tilak of victory on your forehead, that is, put on a tilak of awareness. The sign of a devotee is a tilak and the sign of the fortune of being wed is also a tilak. The sign of receiving a kingdom is also a raj-tilak (tilak of receiving the kingdom). When you set out to achieve success in any auspicious task, a tilak is applied on you before you leave. All of you are married to the Father and this is why your tilaks are imperishable. Now be one who wears a tilak of self-sovereignty and you will receive a tilak of the kingdom in the future.
Slogan: To donate knowledge, virtues and powers is the greatest donation.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_3]

 

 Read Bk Murli 8 August 2017 :- Click Here

Brahma kumaris murli 10 August 2017 : Daily Murli (Hindi)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 10 August 2017

August 2017 Bk Murli :- Click Here

To Read Murli 9 August 2017 :- Click Here

BK murli today ~ 10/08/2017 (Hindi) Brahma Kumaris प्रातः मुरली

10/08/17
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
”मीठे बच्चे – जब तक जीना है पवित्रता का व्रत पक्का रखना है क्योंकि यह अन्तिम जन्म है, पवित्र बनकर पवित्र दुनिया में जाना है”
प्रश्नः- बाप का प्यार वा अधिकार किन बच्चों पर रहता है?
उत्तर:- जो अच्छी रीति पढ़ते और पढ़ाते हैं, सबूत देते हैं। उन पर बाप का सबसे अधिक प्यार रहता है। जो अच्छी रीति पढ़ने वाले हैं वही माला में पिरोयेंगे।
प्रश्नः- भविष्य देव पद प्राप्त करने के लिए अपनी कौन सी जांच करनी है?
उत्तर:- जांच करो दैवी गुण धारण करने में कौन-कौन से विघ्न आते हैं, उन विघ्नों को युक्ति से उड़ाना है। अपने को देखना है हम पावन कहाँ तक बने हैं! कोई भी कांटा रूकावट तो नहीं डालता!
गीत:- छोड़ भी दे आकाश सिंहासन…

ओम् शान्ति। भक्त भगवान को अर्थात् बाप को बुलाते हैं, क्यों बुलाते हैं? क्योंकि दु:खी हैं। यह भी तुम समझते हो कि दु:ख के बाद सुख आना है जरूर। सुख था, अभी नहीं है फिर बुलाते हैं कि आकर सहज राजयोग सिखाओ। सिखलाने वाला जरूर बाप चाहिए। बाप समझाते हैं जैसे तुम आत्मा गर्भ में आकर शरीर लेती हो ऐसे मैं नहीं लेता हूँ। मुझे तो पतितों को पावन बनाना है, इसलिए मुझे बड़ा शरीर चाहिए। मुझे आना ही है पावन बनाने। माया रावण ने तुमको पतित बनाया है, इसलिए अब यह 5 विकार दान में दे दो तो ग्रहण छूट जाये। पहला मुख्य है देह-अभिमान। अपने को अब देही-अभिमानी समझो। मैं इस देह में रहने वाली आत्माओं से बात करता हूँ, उन्हों को ज्ञान देता हूँ। 5 हजार वर्ष पहले भी यह ज्ञान सुनाया था। राजयोग सिखलाया था। कल्प-कल्प सिखलाता हूँ। आने से ही हमारा पतितों को पावन बनाने का धन्धा ठहरा। बाप का पार्ट है, आकर बच्चों को पावन बनाना। तुम जानते हो हम सो देवता पावन थे फिर पावन बनना है। दैवीगुण धारण करने हैं। भविष्य में तुम सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी प्रिन्स प्रिन्सेज बनने वाले हो। यह नॉलेज है ही भविष्य प्रिन्स प्रिन्सेज बनने की। तो जब दैवीगुण धारण करेंगे तब प्रिन्स प्रिन्सेज बनेंगे। अपने को देखना है, मैं धारणा करता हूँ? क्या-क्या विघ्न आते हैं? युक्ति से उन विघ्नों को उड़ाना है। बाप की याद से ही कर्मातीत अवस्था को पाना है। कांटा जो आवे उनको हटाते आगे-आगे जाना है। देह-अभिमान छोड़ देही-अभिमानी बन बाप को याद करना है। जितना याद करेंगे उतना रास्ता साफ होता जायेगा। गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान बनना है। विकार में कभी नहीं जाना है। मूल बात है ही विकार की। विकार में जाना बंद करना है। भल कितने भी विघ्न आयें परन्तु पवित्र जरूर बनना है। जास्ती विघ्न स्त्रियों पर आते हैं। वह चाहती हैं हम पवित्र रहें। कृष्णपुरी में जाने चाहती हैं। कृष्ण जयन्ती पर बहुत प्रेम से कृष्ण को झुलाती हैं। पूजा करती हैं, व्रत आदि रखती हैं। वह तो है सिर्फ 7 दिन का व्रत नेम। बाप कहते हैं कि अभी तुम यह व्रत रखो कि विकार में कभी नहीं जायेंगे। जब तक जीना है तब तक पवित्रता का व्रत रखना है।

तुम जानते हो इस पुरानी दुनिया में अब यह हमारा अन्तिम जन्म है। न सिर्फ हमारा बल्कि सारी दुनिया का अन्तिम जन्म है। तुम तो समझते हो कि अब हम पवित्र बन पवित्र दुनिया में जाते हैं। दूसरा जन्म हमारा पवित्र दुनिया में होगा। वह हठयोगी सन्यासी कोई इस विचार से पवित्र नहीं बनते हैं कि यह हमारा अन्तिम जन्म है। यहाँ तो मेहनत है। साथ में रहते हुए भी कभी विकार में नहीं जाना है। दोनों को व्रत लेना है। अबलाओं पर कितने अत्याचार होते हैं। वही पुकारती हैं। पुरूष कभी पुकारते नहीं हैं कि प्रभू लाज रखना। नंगन होने से बचाओ, यह माताओं की पुकार है। मातायें बाप को पुकारती हैं हे बाबा मुझे नंगन होने से बचाओ। यह वही गीता भागवत वाली बातें हैं, सिर्फ नाम भूल से कृष्ण का लगा दिया है। कृष्ण तो पतित-पावन है नहीं। पतित-पावन तो एक ही बाप है। तुम समझते हो कि पवित्र बनने के लिए मारें भी खानी पड़ती हैं। कल्प पहले भी ऐसे हुआ था। अब फिर से हो रहा है। एक द्रोपदी नहीं, तुम कितनी द्रोपदियां हो। अनेक पतितों को पावन बनाना है। तुम मातायें निमित्त बनी हो – पवित्र बनकर, पवित्र बनाने। तुमको तो और ही जास्ती पढ़ाई पर ध्यान देना है। अपनी हमजिन्स को उठाना है। सन्यासियों का है निवृत्ति मार्ग। यह है प्रवृत्ति मार्ग। गृहस्थ व्यवहार में रह पवित्र बनना है, पढ़ना और पढ़ाना है, जिससे ऊंच पद हो जाए। पढ़ाई है बहुत सहज। समझाना है भारत जो हीरे जैसा था, लक्ष्मी-नारायण का राज्य था, अभी इतना गिरा क्यों है। हम आपको बेहद की हिस्ट्री-जॉग्राफी बतावें। फिर स्वर्ग कैसे होगा, मनुष्यों के तो ख्याल में भी नहीं है। यह किसको पता नहीं कि लक्ष्मी-नारायण जो पूज्य थे वही पुजारी बने हैं। आपेही पूज्य… यह परमात्मा के लिए नहीं है। यह किसको पता नहीं कि जो पूज्य थे वही पुजारी तमोप्रधान बने हैं। पूज्य थे, जरूर पुनर्जन्म लिया होगा।

बाप बैठ समझाते हैं सतयुग में जो आते हैं उनको पुनर्जन्म लेना है। हम सूर्यवंशी फिर चन्द्रवंशी बनें, अब ब्राह्मण वंशी बनते हैं, फिर देवता वंशी बनेंगे। जैसे इनको बाप ने एडाप्ट कर ब्रह्मा बनाया है। कोई पूछे तुम कैसे बने? बोलो, ब्रह्मा के मुख से परमपिता परमात्मा ने हमको अपना बनाया है। बाप ही पतितों को पावन बनाते हैं। अभी हम प्रतिज्ञा करते हैं पवित्रता की। बाप को याद करने से ही हम पावन बनते हैं। बाप कृपा करेंगे? कृपा तो की है ना। परमधाम से पतित दुनिया में, पतित शरीर में आये हैं। बाप कहते हैं अब मैं आया हूँ जो सिखलाता हूँ वह सीखो, मुझे याद करो तो तुम्हें ताकत मिलेगी। विकर्म विनाश होंगे, इसमें आशीर्वाद की तो बात ही नहीं। टीचर को कहेंगे क्या कि आप कृपा करो तो हम 100 मार्क्स से पास हो जायें! यह भी बेहद का टीचर है – पढ़ाते हैं। कोई को नॉलेज धारण नहीं होती है तो क्या करेंगे! टीचर सब पर कृपा करे तो सब पास हो जाएं, फिर तो राजधानी कैसे बनेगी। तुम बच्चों को तो पुरूषार्थ करना है। फालो करो माँ बाप को। बाप को याद करो और कोई उपाय है नहीं। नहीं तो बाप को पुकारते क्यों हो। साधू सन्त आदि सब कहते हैं हमको दु:खों से आकर छुड़ाओ। भारी संकट आने हैं, जब विनाश शुरू हो जायेगा फिर समझेंगे जरूर कहीं भगवान गुप्त वेश में है। कृष्ण अगर होता तो सारी दुनिया में ढिंढोरा पिट जाता। कृष्ण तो आ न सके। यह तो बाप को आना पड़ता है। अन्त तक बाप को ज्ञान सुनाना है। आते ही गुप्त रूप में हैं। कृष्ण तो हो न सके। निराकार बाप सभी का एक है। वह आये हैं पतितों को पावन बनाकर वर्सा देने। तुम्हारा भी फ़र्ज है – सबको बतलाना। पूछना है परमपिता परमात्मा से तुम्हारा क्या सम्बन्ध है! बाप को कितने ढेर बच्चे हैं। परमपिता परमात्मा का डायरेक्शन है कि एक तो मुझे याद करो और अच्छी रीति पढ़ो। बाबा को अच्छी रीति याद कर ऊंच वर्सा पाना है। बेहद की हिस्ट्री-जॉग्राफी तुमको समझाते रहते हैं। चित्रों पर भी तुम समझा सकते हो। भारत सतयुग में सिरताज था। सूर्यवंशी देवी देवतायें राज्य करते थे फिर चन्द्रवंशी राज्य हुआ, कला गिरती गई। यह भी तो देखना पड़े ना। पढ़ेंगे अच्छी रीति तो सीखेंगे भी। पढ़ेंगे नहीं तो नापास हो जायेंगे। सावधानी कौन दे। आजकल माया असावधान करने वाली बहुत है। यहाँ झूठ छिप नहीं सकता। कोई विकर्म करेंगे तो वह जमा होता जायेगा। पाप अथवा पुण्य जमा तो जरूर होता है। उस अनुसार ही दूसरा जन्म मिलता है। कोई भी पाप करेंगे तो जन्म भी ऐसे ही मिलेगा इसलिए बाप कहते हैं कोई पाप करते हो तो झट बतलाओ। ऐसे नहीं कि ईश्वर तो सब जानते हैं। बाप को बतलाना पड़े। इस जन्म में जो पाप कर्म किये हैं वह आत्मा जानती है। सब कुछ याद रहता है कि हमने क्या-क्या काम किये हैं। बापदादा को बतलाओ कि हमने क्या-क्या किया। मुख्य बात है विकार की। चोरी करना, ठगी करना वह तो छोटी-छोटी बातें हैं। मुख्य है विकार की बात, काम महाशत्रु है। विकार में जाने वाले को ही पतित कहा जाता है। इन विकारों पर पहले जीत पानी है। तुम्हारा दुश्मन ही रावण है जो पतित बनाते हैं। अब पावन बनने के लिए बाप को याद करो। बाप का बनकर और फिर विकार में गिरे तो चोट बहुत लगेगी। पहले तो देह-अभिमान छोड़ना है फिर काम महाशत्रु है। सारी युद्ध है इस पर। तो यह सब बातें समझकर फिर औरों को समझानी है। बाबा पूछेंगे तुमने कितनों को सच्ची गीता वा सत्य नारायण की कथा, अमरकथा सुनाई! पाप आत्मायें तो ढेर की ढेर हैं। तो यह भी पोतामेल बताओ तब समझें तुम ब्राह्मण बने हो। कितने को आपसमान बनाया है! यह है सहज राजयोग की बातें। बाप का परिचय देना है। दुनिया में यह तो कोई जानते नहीं हैं। बाप के पास बहुतों के सर्टीफिकेट भी आते हैं। लिखते हैं फलाने ने ऐसा समझाया, वही गुरू निमित्त बना स्वर्ग का मालिक बनाने। बी.के. सबूत देते हैं। परन्तु जो बनते हैं, वह किसको समझाते हैं? किसको ले आते हैं? ले तो आना है ना! जिनको निश्चय होगा फट से कहेंगे, पहले बाप की गोद तो ले लेवें। क्रिश्चियन में बच्चा पैदा होता है तो क्रिश्चिनाइज़ कराते हैं। हम भी तो ईश्वर की गोद का बच्चा बनें। सदगुरू की गोद तो लें। गोद ली, बाप से मिले तो यह हमारा वर्सा हो गया। ऐसे मस्त कोई मुश्किल निकलते हैं। समझाना तो है ना। आगे चल अच्छी रीति समझेंगे। तुम्हारे में यह ताकत भरेगी। फिर बाप से मिलने बिगर ठहर नहीं सकेंगे। एकदम भागेंगे।

[wp_ad_camp_5]

 

यह माँ बाप भी है, टीचर भी है, फिर गुरू भी है। माँ बाप की गोद तो ले लो। गुरू के पास जाते हैं परन्तु वह तो कोई स्वर्ग की बादशाही देते नहीं। बादशाही बाप से ही मिलती है। बाप ही टीचर गुरू भी है तो क्यों नहीं तीनों से वर्सा लेवें। यह वन्डर है ना! कृष्ण के लिए थोड़ेही कहेंगे वह बाप टीचर गुरू था। कृष्ण तो छोटा प्रिन्स है। यहाँ तुम बच्चों की बुद्धि में है कि यह बाप भी है, शिक्षक भी है और गुरू भी है। इनका कोई बाप, शिक्षक, गुरू नहीं है। कृष्ण के तो माँ बाप थे ना। पतित-पावन है एक बाप, जिसको माँ बाप हैं वह पतित-पावन हो न सकें। उनको भगवान नहीं कह सकते। भगवान का कोई माँ बाप नहीं। गॉड फादर का कोई फादर हो नहीं सकता। गॉड फादर को ही पतित-पावन, लिबरेटर कहा जाता है। उन्हें लिबरेट करने वाला कोई नहीं है। यह बाप का ही काम है। मनुष्य को भगवान कह नहीं सकते। ब्रह्मा-विष्णु-शंकर को भी रचने वाला वह बाप रचयिता है। ऊंच ते ऊंच भगवान गाया जाता है। वह हम सबका बाप है। कृष्ण को सभी का बाप थोड़ेही कहेंगे। हम एक निराकार बाप के सब बच्चे हैं। वही नई दुनिया का रचयिता है। नई दुनिया को सुखधाम कहा जाता है। फिर नई से पुरानी दुनिया बनती है। रावण राज्य है ना। रावण को जलाते भी हैं, परन्तु समझते कुछ भी नहीं हैं। त्योहार जो भी मनाते हैं, उसका अर्थ भी समझते नहीं हैं। बाप समझाते हैं तुम्हारा यह बहुत जन्मों के अन्त का अन्तिम जन्म है। रावण का भी अभी अन्त है फिर सतयुग में थोड़ेही बनायेंगे। यह दुश्मन किस प्रकार का है जिसको जलाते ही रहते हैं। इनका जन्म कब हुआ? किसको पता नहीं। शिव जयन्ती मनाते हैं तो रावण जयन्ती भी मनावें ना! समझते कुछ भी नहीं। तुमको समझाया जाता है – यह है डिटेल की बातें। यह भी बुद्धि में धारण करनी पड़े। क्लास में ही नहीं आयेंगे तो क्या पढ़ेंगे। पढ़ेंगे, पढ़ायेंगे नहीं तो क्या पद पायेंगे। बच्चा वही अच्छा जो पढ़कर पढ़ाये। सबूत दे। बच्चे तो सब हैं। समझना चाहिए हम बहुत सर्विस करेंगे, बहुतों को आप समान बनायेंगे तो बाबा का अच्छा प्यार रहेगा। बाप तो पुचकार देते रहते हैं। बच्चे अच्छी रीति पढ़ो। तोता भी एक पढ़ने वाला होता है, जिसे कण्ठी होती है। यहाँ भी ऐसे हैं जो अच्छी रीति पढ़ेंगे वही कण्ठी (माला) में पिरोयेंगे। पढ़ते ही नहीं तो जैसे जंगली हैं। वह विजय माला में आ न सके। तुम बच्चों को तो अच्छी रीति पढ़ना और पढ़ाना है। यह है सच्ची कथा, जो सच्चा बाप ही सुनाते हैं। सचखण्ड की स्थापना करते हैं। लक्ष्मी-नारायण के राज्य में झूठ कभी बोलते नहीं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए कमल फूल समान रहना है। जब तक जीना है पवित्रता का व्रत जरूर रखना है।

2) कृपा मांगने के बजाए मात-पिता को फालो करना है। पढ़ाई ध्यान से पढ़नी और पढ़ानी है।

वरदान:- अमृतवेले अपने मस्तक पर विजय का तिलक लगाने वाले स्वराज्य अधिकारी सो विश्व राज्य अधिकारी भव
रोज़ अमृतवेले अपने मस्तक पर विजय का तिलक अर्थात् स्मृति का तिलक लगाओ। भक्ति की निशानी तिलक है और सुहाग की निशानी भी तिलक है, राज्य प्राप्त करने की निशानी भी राजतिलक है। कभी कोई शुभ कार्य में सफलता प्राप्त करने जाते हैं तो जाने के पहले तिलक देते हैं। आप सबको भी बाप के साथ का सुहाग है इसलिए अविनाशी तिलक है। अभी स्वराज्य के तिलकधारी बनो तो भविष्य में विश्व के राज्य का तिलक मिल जायेगा।
स्लोगन:- ज्ञान, गुण और शक्तियों का दान करना ही महादान है।

[wp_ad_camp_3]

 

To Read Murli 8 August 2017 :- Click Here

 

 
Font Resize