1 october ki murli

TODAY MURLI 1 OCTOBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 1 October 2020

01/10/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to become deities, so renounce the defects of Maya. To get angry, to beat someone, to harass someone, to perform bad acts and to steal are all great sins.
Question: Which children can go ahead fast in this knowledge? Which ones experience a loss?
Answer: Those who know how to keep their accounts can go ahead very fast in this knowledge. It is those who don’t remain soul conscious who experience a loss. Baba says: Businessmen have the habit of keeping their accounts. Therefore, here, too, they can go ahead very fast.
Song: O man, look at your face in the mirror of your heart!

Om shanti. The Father explains to the children who are spiritual actors, because it is souls who play parts in this unlimited play. The parts are for human beings. You children are now making effort. Although people study the Vedas and scriptures and worship Shiva, the Father says: No one can attain Me through any of that, because the path of devotion is the path of descending. There is salvation through knowledge. Therefore, there must surely also be something through which you descend. This is a play that no one knows about. When they worship a lingam of Shiva, they don’t call that the brahm element. So, whom do they worship? They consider that to be God and worship Him. When you first began to perform devotion, you created diamond Shivalingams. Then you became poor and so you made them of stone. The diamond Shivalingams at that time must have been worth 4000 to 5000 rupees. The present equivalent value must be 500,000 to 700,000 rupees. The diamonds that were used then are now very difficult to find. People have stone intellects, so, without having any knowledge they worship stone. When you have knowledge you do not worship anyone. Now you only remember the One who is personally in front of you in the living form. You understand that your sins will be absolved by having remembrance. In the song, it says: O children! Souls are called conscious beings. Once a living soul leaves his body, there is only a corpse. Souls leave their bodies. Souls are imperishable. When a soul enters a body, that body becomes alive. The Father says: O souls, look inside yourselves and see to what extent you have imbibed divine virtues. Are there any vices in you? Do you have any devilish traits of stealing etc? By performing devilish acts you fall and you are unable to claim a high status. You must definitely finish all your bad habits. Deities never get angry with anyone. Here, you experience a lot of beatings from devils. Because you are becoming part of the deity community, Maya becomes your enemy. The defects of Maya continue to work. To beat someone, to harass someone, to perform bad acts are all sins. You children must remain very clean and pure. To steal etc. is a great sin. You have been promising the Father: Baba, You alone, and no one else is mine. I will only remember You. Although they sing this on the path of devotion, they don’t know what happens by having remembrance. They don’t know the Father at all. On the one hand, they say that He is beyond name and form, and, on the other hand, they worship a Shivalingam. You have to understand this very well and then explain it to others. The Father says: Now judge for yourself whom you should call a great soul. Is Shri Krishna, who is a small child and a prince of the golden age, a great soul or is an iron-aged person of today a great soul? Krishna is not born through vice. That is the viceless world whereas this is the vicious world. You can give many titles to those who are viceless. What title can you give to those who are vicious? Only the one Father can make you elevated. He is the Highest on High. All human beings are actors. Therefore, they definitely have to come to play their parts. The golden age is the world of elevated human beings. Even all the animals etc. there are elevated. Maya, Ravan, doesn’t exist there. There aren’t any degraded animals there. You know that peacocks and peahens do not create children through vice. A peacock sheds a tear which the peahen picks up. The peacock is called the national bird. There is no mention of vice in the golden age. They portray peacock feathers on the head of Shri Krishna, the number one prince of the world. There must be some significance in that. The Father refines all of these matters and explains them to you. You know how children will be born there. There is no vice there. The Father says: I am making you into deities. Therefore, check yourself thoroughly. You cannot become the masters of the world without making effort. You souls are points. Similarly, the Father too is a point. There is no question of being confused about this. Some of you say: We want to see Baba. The Father says: You have been doing a lot of worshipping of the ones you are able to see. There was no benefit in doing that. I am now explaining everything to you accurately. I am filled with a whole part. I am the Supreme Father, the Supreme Soul. No child would call his worldly father this. Only the One is called this. Sannyasis don’t have children who would call them father. This one is the Father of all souls, the One who gives you your inheritance. Sannyasis do not follow the family path. The Father sits here and explains that you are the ones who have taken 84 births. At first, you were satopradhan and you then started to come down. You would not call yourselves supreme now; you consider yourselves to be degraded. The Father repeatedly says: The main thing is to check whether you have any vices in you. Write your chart every night. Businessmen always keep accounts. Government servants can’t keep accounts. They get a fixed salary. Businessmen can go ahead very fast on this path of knowledge. Educated officers can’t go ahead as fast. In business today they can earn 50 and tomorrow they can earn 60. Sometimes there is a loss. The pay of Government servants is fixed. In this income too, if you are not soul conscious, you experience a loss. You mothers do not do business. For them, it is even easier. It is easy for you kumaris too, because mothers have had to come down the ladder. It is the greatness of those who make so much effort. You kumaris have not gone into vice, so what do you have to renounce? Men find it difficult. They have to look after their family and their clan. They have to come down the ladder that they have climbed up. Maya slaps them again and again and makes them fall. You have now become BKs. Kumaris are pure. The greatest love a wife has is for her husband. You have to remember the Husband of all husbands (The Supreme soul) and forget everyone else. Parents have attachment to their children. Children are ignorant of attachment. Attachment begins after they get married. First they love their wife, and then they start pushing her up the ladder of vice. A kumari is viceless, and so she is worshipped. You are called Brahma Kumaris. You become praiseworthy and you then become worthy of worship. The Father is also your Teacher,so you children should have the intoxication of being students. God will definitely make you into gods and goddesses. It is explained to you that God is one. All others are brothers; there is no other connection. Creation is through Prajapita Brahma. Then the number grows. It cannot be said that the number of souls grows. It is the number of human beings that grows. There is a limited number of souls. Many continue to come. As long as there are some up there, they will continue to come down. The tree continues to grow. It is not going to dry up. This tree is compared to a banyan tree; there is no foundation but the rest of the tree is still standing. It is the same with you. There is no foundation but there is still one or another sign of it. Even now, they continue to build temples. Human beings don’t know when the kingdom of deities existed or where it went to? It is you Brahmins who have this knowledge. Human beings don’t even know that the form of the Supreme Soul is just a point. It is written in the Gita that His form is that of eternal, unlimited light. Previously, many used to have visions according to their devotion. They would become very red. They would say: “Enough! I can’t tolerate any more!” That was just a vision. The Father says: There is no benefit in having visions. Here, the main thing is the pilgrimage of remembrance. Just as mercury slips away, in the same way, remembrance also repeatedly slips away. No matter how much one wants to remember the Father, other thoughts emerge. It is in this remembrance that you must race. It is not that your sins will be absolved instantly; it does take time. If you reached the karmateet stage now, your body wouldn’t remain. However, no one can attain the karmateet stage yet. If you did, you would need a golden-aged body. Now, you children must only remember the Father. Continue to check yourself: Do I perform any bad acts? You definitely have to keep a chart. Such businessmen can become rich very quickly. The Father has knowledge and He is giving it to you. The Father says: This knowledge is fixed in My soul. I will only tell you the knowledge I told you a cycle ago, in exactly the same way. I will only explain to you children. No one else knows. You know this world cycle. The parts that all actors play are fixed. There cannot be any changes, nor can anyone become free from playing his part. Yes, for the rest of the time they receive liberation. You areall-rounders;you take 84 births. All the rest will stay at home and come down later. Those who want eternal liberation will not come here. They will go back at the end. They will not listen to this knowledge. They will come down and go back like mosquitoes. You are studying according to the drama. You understand that Baba also taught Raj Yoga 5000 years ago. You explain to others that it is Shiv Baba who speaks this. You understand how very elevated you were and how very degraded you have now become. The Father is now making you elevated. Therefore, you must make effort. You come here in order to be refreshed. This place is called Madhuban. Baba does not speak the murli in your Calcutta or Bombay. The murli is only played in Madhuban. In order to be refreshed, you have to come to the Father to listen to the murli. Many new points continue to emerge. You can feel the difference when you listen to the murli directly. As you go further, you will see many parts. If Baba were to tell you everything in advance, all the taste would be lost. Everything emerges gradually. One second is not the same as the next. The Father has come to do spiritual service. Therefore, it is also the duty of you children to do spiritual service. At least tell everyone to remember the Father and to become pure! It is in purity that they fail because they don’t have remembrance. You children should have a great deal of happiness. You are sitting personally in front of the unlimited Father whom no one knows. Only Shiv Baba is the Ocean of Knowledge. Remove your intellects from bodily beings. This is Shiv Baba’s chariot. If you do not have regard for him, you will have to endure great punishment from Dharamraj. You have to have regard for the seniors. There is so much regard for Adi Dev. Since there is so much regard for non-living idols, how much regard should there be for the living ones? Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love remembrance and Good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Check yourself and imbibe divine virtues. Remove all bad habits. Promise Baba: Baba, I will never perform any bad act.
  2. In order to attain the karmateet stage, race in remembrance. Remain present on spiritual service. Have regard for your seniors.
Blessing: May you be a constantly great donor and use all your treasures for yourself and others.
The Father’s bhandara (kitchen, treasure-store) functions every day, and He distributes every day. In the same way, may you continue to give constantly because you have overflowing treasures of knowledge, powers and happiness. There is no danger in keeping these with you and using them. When this treasure-store is open, thieves will not come. If you keep it closed, thieves will come, and so look again and again at the treasures you have received and use them for yourself and others and you will become a constantly great donor.
Slogan: Churn whatever you have heard, because it is only by churning that you will become powerful.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 1 OCTOBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 October 2020

Murli Pdf for Print : – 

01-10-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हें देवता बनना है इसलिए माया के अवगुणों का त्याग करो, गुस्सा करना, मारना, तंग करना, बुरा काम करना, चोरी-चकारी करना यह सब महापाप है”
प्रश्नः- इस ज्ञान में कौन-से बच्चे तीखे जा सकते हैं? घाटा किन्हें पड़ता है?
उत्तर:- जिन्हें अपना पोतामेल रखना आता है वह इस ज्ञान में बहुत तीखे जा सकते हैं। घाटा उनको पड़ता है जो देही-अभिमानी नहीं रहते। बाबा कहते व्यापारी लोगों को पोतामेल निकालने की आदत होती है, वह यहाँ भी तीखे जा सकते हैं।
गीत:- मुखड़ा देख ले प्राणी……..

ओम् शान्ति। रूहानी पार्टधारी बच्चों प्रति बाप समझाते हैं क्योंकि रूह ही पार्ट बजा रही है बेहद के नाटक में। है तो मनुष्यों का ना। बच्चे इस समय पुरूषार्थ कर रहे हैं। भल वेद-शास्त्र पढ़ते हैं, शिव की पूजा करते हैं परन्तु बाप कहते हैं इनसे कोई मेरे को प्राप्त नहीं कर सकते क्योंकि भक्ति है ही उतरती कला। ज्ञान से सद्गति होती है तो जरूर कोई से उतरते भी होंगे। यह एक खेल है, जिसको कोई भी जानते नहीं। शिवलिंग को जब पूजते हैं तो उनको ब्रह्म नहीं कहेंगे। तब कौन है जिसको पूजते हैं। उनको भी ईश्वर समझ पूजा करते हैं। तुम जब पहले-पहले भक्ति शुरू करते हो तो शिवलिंग हीरे का बनाते हो। अभी तो गरीब बन गये हैं तो पत्थर का बनाते हैं। हीरे का लिंग उस समय 4-5 हज़ार का होगा। इस समय तो उनका दाम 5-7 लाख होगा। ऐसे हीरे अभी मुश्किल निकलते हैं। पत्थरबुद्धि बन गये हैं तो पूजा भी पत्थर की करते हैं, ज्ञान बिगर। जब ज्ञान है तो तुम पूजा नहीं करते हो। चैतन्य सम्मुख में है, उनको ही तुम याद करते हो। जानते हो याद से विकर्म विनाश होंगे। गीत में भी कहते हैं – हे बच्चों, प्राणी कहा जाता है आत्मा को। प्राण निकल गया फिर जैसे मुर्दा है। आत्मा निकल जाती है। आत्मा है अविनाशी। आत्मा जब शरीर में प्रवेश करती है तब चैतन्य है। बाप कहते हैं – हे आत्मायें, अपने अन्दर जांच करो कहाँ तक दैवीगुणों की धारणा हुई है? कोई विकार तो नहीं है? चोरी चकारी आदि का कोई आसुरी गुण तो नहीं है ना? आसुरी कर्तव्य करने से फिर गिर पड़ेंगे। इतना दर्जा नहीं पा सकेंगे। खराब आदत को मिटाना जरूर है। देवता कभी कोई पर गुस्सा नहीं करते। यहाँ असुरों द्वारा कितनी मारें खाते हैं क्योंकि तुम दैवी सम्प्रदाय बनते हो तो माया कितनी दुश्मन बन पड़ती है। माया के अवगुण काम करते हैं। मारना, तंग करना, बुरा काम करना यह सब पाप है। तुम बच्चों को तो बहुत शुद्ध रहना चाहिए। चोरी चकारी आदि करना तो महान पाप है। बाप से तुम प्रतिज्ञा करते आये हो – बाबा मेरा तो आप एक दूसरा न कोई। हम आपको ही याद करेंगे। भक्ति मार्ग में भल गाते हैं परन्तु उनको पता नहीं है कि याद से क्या होता है। वह तो बाप को जानते ही नहीं। एक तरफ कहते हैं नाम-रूप से न्यारा है, दूसरे तरफ फिर लिंग की पूजा करते हैं। तुमको अच्छी रीति समझकर फिर समझाना है। बाप कहते हैं यह भी जज करो कि महान् आत्मा किसको कहा जाए? श्रीकृष्ण जो छोटा बच्चा स्वर्ग का प्रिन्स है, वह महात्मा है या आजकल के कलियुगी मनुष्य? वह विकार से पैदा नहीं होता है ना। वह है निर्विकारी दुनिया। यह है विकारी दुनिया। निर्विकारी को बहुत टाइटिल दे सकते हैं। विकारी का क्या टाइटिल है? श्रेष्ठाचारी तो एक बाप ही बनाते हैं। वह है सबसे ऊंच ते ऊंच और सब मनुष्य पार्टधारी हैं तो पार्ट में जरूर आना पड़े। सतयुग है श्रेष्ठ मनुष्यों की दुनिया। जानवर आदि सब श्रेष्ठ हैं। वहाँ माया रावण ही नहीं। वहाँ ऐसे कोई तमोगुणी जानवर होते नहीं। तुमको मालूम है – मोर-डेल है वह विकार से बच्चा पैदा नहीं करते। उनको आंसू गिरता है, उसे डेल धारण करती है। नेशनल बर्ड कहते हैं। सतयुग में भी विकार का नाम नहीं। मोर का पंख, पहला नम्बर जो विश्व का प्रिन्स है श्रीकृष्ण, उनके माथे में लगाते हैं। कोई तो रहस्य होगा ना। तो यह सब बातें बाप रिफाइन कर समझाते हैं। वहाँ बच्चे कैसे पैदा होते हैं, वह तो तुम जानते हो। वहाँ विकार होते नहीं। बाप कहते हैं तुमको देवता बनाते हैं तो अपनी जांच पूरी करो। मेहनत बिगर विश्व का मालिक थोड़ेही बन सकेंगे।

जैसे तुम्हारी आत्मा बिन्दी है वैसे बाप भी बिन्दी है। इसमें मूँझने की कोई दरकार नहीं है। कोई कहते हैं हम देखें। बाप कहते हैं देखने वालों की तो तुमने बहुत पूजा की। फायदा कुछ भी हुआ नहीं। अब यथार्थ रीति मैं तुमको समझाता हूँ। मेरे में सारा पार्ट भरा हुआ है। सुप्रीम सोल हूँ ना, सुप्रीम फादर। कोई भी बच्चा अपने लौकिक बाप को ऐसे नहीं कहेंगे। एक को ही कहा जाता है। सन्यासियों को तो बच्चे हैं नहीं जो बाप कहें। यह तो सब आत्माओं का बाप है, जो वर्सा देते हैं। उन्हों का कोई गृहस्थ आश्रम तो ठहरा नहीं। बाप बैठ समझाते हैं – तुमने ही 84 जन्म भोगे हैं। पहले-पहले तुम सतोप्रधान थे फिर नीचे उतरते आये हो। अभी कोई अपने को सुप्रीम थोड़ेही कहेंगे, अभी तो नींच समझते हैं। बाप बार-बार समझाते हैं मूल बात कि अपने अन्दर देखो कि हमारे में कोई विकार तो नहीं हैं? रात को रोज़ अपना पोतामेल निकालो। व्यापारी हमेशा पोतामेल निकालते हैं। गवर्मेन्ट सर्वेन्ट पोतामेल नहीं निकाल सकते। उन्हों को तो मुकरर तनखा मिलती है। इस ज्ञान मार्ग में भी व्यापारी तीखे जाते हैं, पढ़े-लिखे आफिसर्स इतना नहीं। व्यापार में तो आज 50 कमाया, कल 60 कमायेंगे। कभी घाटा भी हो जायेगा। गवर्मेन्ट सर्वेन्ट की फिक्स पे होती है। इस कमाई में भी अगर देही-अभिमानी नहीं होंगे तो घाटा पड़ जायेगा। मातायें तो व्यापार करती नहीं। उनके लिए फिर और ही सहज है। कन्याओं के लिए भी सहज है क्योंकि माताओं को तो सीढ़ी उतरनी पड़ती है। बलिहारी उनकी जो इतनी मेहनत करती हैं। कन्यायें तो विकार में गई ही नहीं तो छोड़े फिर क्या। पुरूषों को तो मेहनत लगती है। कुटुम्ब परिवार की सम्भाल करनी पड़ती है। सीढ़ी जो चढ़ी है वह सारी उतरनी पड़ती है। घड़ी-घड़ी माया थप्पड़ मार गिरा देती है। अभी तुम बी.के. बने हो। कुमारियाँ पवित्र ही होती हैं। सबसे जास्ती होता है पति का प्रेम। तुम्हें तो पतियों के पति (परमात्मा) को याद करना है और सबको भूल जाना है। माँ-बाप का बच्चों में मोह होता है। बच्चे तो हैं ही अन्जान। शादी के बाद मोह शुरू होता है। पहले स्त्री प्यारी लगती फिर विकारों में ढकेलने की सीढ़ी शुरू कर देते हैं। कुमारी निर्विकारी है तो पूजी जाती। तुम्हारा नाम है बी.के.। तुम महिमा लायक बन फिर पूजा लायक बनते हो। बाप ही तुम्हारा टीचर भी है। तो तुम बच्चों को नशा रहना चाहिए, हम स्टूडेन्ट हैं। भगवान जरूर भगवान-भगवती ही बनायेंगे। सिर्फ समझाया जाता है – भगवान एक है। बाकी सब हैं भाई-भाई। दूसरा कोई कनेक्शन नहीं। प्रजापिता ब्रह्मा से रचना होती है फिर वृद्धि होती है। आत्माओं की वृद्धि नहीं कहेंगे। वृद्धि मनुष्यों की होती है। आत्माओं का तो लिमिट नम्बर है। बहुत आते रहते हैं। जब तक वहाँ हैं, आते रहेंगे। झाड़ बढ़ता रहेगा। ऐसे नहीं कि सूख जायेगा। इनकी भेंट बनेन ट्री से की जाती है। फाउन्डेशन है नहीं। बाकी सारा झाड़ खड़ा है। तुम्हारा भी ऐसे है। फाउन्डेशन है नहीं। कुछ न कुछ निशानी है। अभी तक भी मन्दिर बनाते रहते हैं। मनुष्यों को थोड़ेही पता है कि देवताओं का राज्य कब था। फिर कहाँ गया? यह नॉलेज तुम ब्राह्मणों को ही है। मनुष्यों को यह मालूम नहीं कि परमात्मा का स्वरूप बिन्दी है। गीता में लिख दिया है कि वह अखण्ड ज्योति स्वरूप है। आगे बहुतों को साक्षात्कार होता था भावना अनुसार। बहुत लाल-लाल हो जाते थे। बस हम नहीं सहन कर सकते। अब वह तो साक्षात्कार था। बाप कहते हैं साक्षात्कार से कोई कल्याण नहीं। यहाँ तो मुख्य है याद की यात्रा। जैसे पारा खिसक जाता है ना। याद भी घड़ी-घड़ी खिसक जाती है। कितना चाहते हैं बाप को याद करें फिर और-और ख्याल आ जाते हैं। इसमें ही तुम्हारी रेस है। ऐसे नहीं कि फट से पाप मिट जायेंगे। समय लगता है। कर्मातीत अवस्था हो जाए तो फिर यह शरीर ही न रहे। परन्तु अभी कोई कर्मातीत अवस्था को नहीं पा सकते हैं। फिर उनको सतयुगी शरीर चाहिए। तो अब तुम बच्चों को बाप को ही याद करना है। अपने को देखते रहो – हमसे कोई बुरा काम तो नहीं होता है? पोतामेल जरूर रखना है। ऐसे व्यापारी झट साहूकार बन सकते हैं।

बाप के पास जो नॉलेज है वह दे रहे हैं। बाप कहते हैं मेरी आत्मा में यह ज्ञान नूँधा हुआ है। हूबहू तुम को वही बोलेंगे जो कल्प पहले ज्ञान दिया था। बच्चों को ही समझायेंगे, और क्या जानें। तुम इस सृष्टि चक्र को जानते हो, इसमें सब एक्टर्स का पार्ट नूँधा हुआ है। बदल सदल नहीं सकता। न कोई छुटकारा पा सकता। हाँ, बाकी समय मुक्ति मिलती है। तुम तो आलराउण्ड हो। 84 जन्म लेते हो। बाकी सब अपने घर में होंगे फिर पिछाड़ी में आयेंगे। मोक्ष चाहने वाले यहाँ आयेंगे नहीं। वह फिर पिछाड़ी में चले जायेंगे। ज्ञान कभी सुनेंगे नहीं। मच्छरों सदृश्य आये और गये। तुम तो ड्रामा अनुसार पढ़ते हो। जानते हो बाबा ने 5 हज़ार वर्ष पहले भी ऐसे राजयोग सिखाया था। तुम फिर औरों को समझाते हो कि शिवबाबा ऐसे कहते हैं। अभी तुम जानते हो हम कितने ऊंच थे, अब कितने नींच बने हैं। फिर बाप ऊंच बनाते हैं तो ऐसे पुरूषार्थ करना चाहिए ना। यहाँ तुम आते हो रिफ्रेश होने। इसका नाम ही पड़ा है मधुबन। तुम्हारे कलकत्ता वा बाम्बे में थोड़ेही मुरली चलाते हैं। मधुबन में ही मुरली बाजे। मुरली सुनने के लिए बाप के पास आना होगा रिफ्रेश होने। नई-नई प्वाइंट्स निकलती रहती हैं। सम्मुख सुनने में तो फील करते हो, बहुत फर्क रहता है। आगे चल बहुत पार्ट देखने हैं। बाबा पहले-पहले सब सुना दे तो टेस्ट निकल जाए। आहिस्ते-आहिस्ते इमर्ज होता जाता है। एक सेकण्ड न मिले दूसरे से। बाप आये हैं रूहानी सेवा करने तो बच्चों का भी फ़र्ज है रूहानी सेवा करना। कम से कम यह तो बताओ – बाप को याद करो और पवित्र बनो। पवित्रता में ही फेल होते हैं क्योंकि याद नहीं करते हैं। तुम बच्चों को बहुत खुशी होनी चाहिए। हम बेहद के बाप के सम्मुख बैठे हैं जिसको कोई भी नहीं जानते हैं। ज्ञान का सागर वह शिवबाबा ही है। देहधारी से बुद्धि योग निकाल देना चाहिए। शिवबाबा का यह रथ है। इनका रिगार्ड नहीं रखेंगे तो धर्मराज द्वारा बहुत डन्डे खाने पड़ेंगे। बड़ों का रिगार्ड तो रखना है ना। आदि देव का कितना रिगार्ड रखते हैं। जड़ चित्र का इतना रिगार्ड है तो चैतन्य का कितना रखना चाहिए। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अन्दर में अपनी जांच कर दैवीगुण धारण करने हैं। खराब आदतों को निकालना है। प्रतिज्ञा करनी है – बाबा हम कभी भी बुरा काम नहीं करेंगे।

2) कर्मातीत अवस्था को प्राप्त करने के लिए याद की रेस करनी है। रूहानी सेवा में तत्पर रहना है। बड़ों का रिगार्ड रखना है।

वरदान:- सर्व खजानों को स्व के प्रति और औरों के प्रति यूज करने वाले अखण्ड महादानी भव
जैसे बाप का भण्डारा सदा चलता रहता है, रोज़ देते हैं ऐसे आपका भी अखण्ड लंगर चलता रहे क्योंकि आपके पास ज्ञान का, शक्तियों का, खुशियों का भरपूर भण्डारा है। इसे साथ में रखने वा यूज़ करने में कोई भी खतरा नहीं है। यह भण्डारा खुला होगा तो चोर नहीं आयेगा। बंद रखेंगे तो चोर आ जायेंगे इसलिए रोज़ अपने मिले हुए खजानों को देखो और स्व के प्रति और औरों के प्रति यूज करो तो अखण्ड महादानी बन जायेंगे।
स्लोगन:- सुने हुए को मनन करो, मनन करने से ही शक्तिशाली बनेंगे।

TODAY MURLI 1 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 1 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 30 September 2019:- Click Here

01/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, hear no evil! You are sitting here in the company of the Truth. You must not go into the bad company of Maya. By being influenced by bad company, you choke with doubts.
Question: Why can no human being at this time be called spiritual?
Answer: Because all are body conscious. How can those who are body conscious be called spiritual? Only the one incorporeal Father is the spiritual Father. Only He gives you teachings to become soul conscious. The title “the Supreme” can only be given to the Father. No one, apart from the Father, can be called “The Supreme.

Om shanti. When you children sit here, you know that Baba is your Baba, Teacher and Satguru. There is a need for all three. First is the Father, then the Teacher who teaches you and then, at the end, there is the Guru. Here, you have to have remembrance in this way, because this is something new. He is also the unlimited Father. Unlimited means He belongs to everyone. Anyone who comes here would be told: Keep this in your awareness. If any of you have doubts about this, raise your hand! This is something wonderful. For birth after birth, you never found anyone whom you would consider to be your father, teacher and satguru, and that too, the Supreme. He is the unlimited Father, the unlimited Teacher and the unlimited Satguru. Did you ever find anyone like that? You cannot find anyone like that at any time other than at this most auspicious confluence age. If any of you have doubts about this, you can raise your hand. The intellect of everyone sitting here has this faith. These three are the main ones. The unlimited Father gives you unlimited knowledge. There is just this unlimited knowledge. You have been studying many types of limited knowledge. Some become lawyers, some become surgeons, because all are needed here: doctors, lawyers, judges; etc. There is no need for them there. There is no question of sorrow there. So, the Father now sits here and gives you children unlimited teachings. Only the unlimited Father gives you unlimited teachings, and you will then not need to study anything for half the cycle. You receive these teachings only once, that is, they are fruitful, that is, you receive the fruit of them for 21 births. Doctors, barristers, judges etc. do not exist there. You have the faith that it truly is like this. There is no sorrow there. There is no suffering of karma there. The Father sits here and explains to you the philosophy of karma. Do those people who relate the Gita tell you this? The Father says: I teach you children Raja Yoga. They have written “God Krishna speaks” in that. However, he is a human being with divine virtues. No one uses the name “Shiv Baba.” He doesn’t have any other name. The Father says: I take this body on loan. This body, this building, does not belong to Me. It is this one’s building. It has windows, etc. So, the Father explains: I am your unlimited Father, that is, I am the Father of all souls. I also teach you souls. He is called the spiritual Father. No one else can be called a spiritual father. Here, you children know that that One is the unlimited Father. A spiritual conference is now taking place. In fact, that is not a spiritual conference. They are not truly spiritual; they are body conscious. The Father says: Children, may you be soul conscious! Renounce the arrogance of the body. They would not be able to say that to anyone. The word “spiritual” is only used now. Previously, they just used to call them religious conferences. No one understands the meaning of spiritual. “The spiritual Father means the incorporeal Father. You souls are spiritual children. The spiritual Father comes and teaches you. No one else can have this understanding. The Father Himself sits here and tells you who He is. This is not mentioned in the Gita. I am giving you unlimited teachings. There is no need there for lawyers, judges, surgeons, etc., because there is nothing but happiness there. There is no name or trace of sorrow there. Here, there is no name or trace of happiness; it is said to have disappeared. They believe that happiness is like the droppings of a crow. They only have a little happiness, and so how could they give the knowledge of unlimited happiness? Previously, when it was the kingdom of deities, there was 100% truth, whereas now there is only falsehood. This is unlimited knowledge. You know that this is the human world tree and that I am its Seed. He has all the knowledge of the tree. People do not have this knowledge. I am the Living Seed. People call Me the Ocean of Knowledge. You receive liberation and salvation in a second through knowledge. I am the Father of all. By recognising Me, you children receive the inheritance. However, there is the kingdom too. There are many numberwise levels of status, in heaven too. The Father teaches the same study, but those who are studying are numberwise. There is no need for any other study in this. There is no one ill there. They don’t study for an income worth a few pennies. You take from here the unlimited inheritance with you. There, you won’t know how someone gave you that status. Only at this time do you understand this. You have been studying limited knowledge, and you have now recognised and come to know the One who teaches you unlimited knowledge. You know that the Father is the Father, as well as the Teacher who comes and teaches us. He is the Supreme Teacher and He teaches Raja Yoga. He is also the true Satguru. This is unlimited Raja Yoga. Those people would only teach you how to become a barrister or a doctor, because this is the world of sorrow. All of those studies are limited, whereas this is an unlimited study. The Father is teaching you this unlimited study. You also know that that Father, Teacher and Satguru comes every cycle and that He teaches the same study for the golden and silver ages. Then He disappears. Your reward of happiness comes to an end according to the drama. This unlimited Father sits here and explains to you. Only He is called the Purifier. Would you say to Krishna, “You are the Mother and Father” or “the Purifier”? There is the difference of day and night between the status of this one (Krishna) and that One. The Father now says: By recognising Me, you can attain liberation-in-life in a second. If Krishna were God, anyone would instantly be able to recognise him. The birth of Krishna is not remembered as a divine and alokik birth. He takes birth just through purity. The Father does not emerge from anyone’s womb. He says: Sweetest, spiritual children! It is spirits that study. All good and bad sanskars remain in each soul. Souls perform actions and they receive bodies accordingly. Some experience a lot of sorrow, some are one-eyed and some are deaf. It would be said that they must have performed such actions in the past and that that is the fruit of them. A soul receives a diseased body, etc. according to the actions that that soul performed. You children now know that it is God, the Father, who is teaching you. God is the Teacher. God is the Preceptor. He is called God, Param Atma, and that means God, the Supreme Soul. Brahma cannot be called “The Supreme. “The Supreme means the Highest on High, the purest of all. Everyone has a different status. No one else can receive the status of Krishna. No one else would be given the status of Prime Minister. The Father’s status too is different from that of Brahma, Vishnu and Shankar. Brahma, Vishnu and Shankar are deities, whereas Shiva is the Supreme Soul. How can they put the two of them together and speak of Shiva-Shankar? Each is separate. Because of not understanding this, they say that Shiva and Shankar are one. They even give such names to people. The Father Himself comes and explains all of these things. You know that that One is Baba, the Teacher and the Satguru. Every human being has a father, a teacher and a guru. When they become old, they adopt gurus. Nowadays, children are made to adopt gurus, because they believe that if the child doesn’t have a guru, there will be disobedience. Previously, people used to adopt gurus after the age of 60, the stage of retirement. Nirvana means beyond sound, the sweet silence home, and you have been making effort for half the cycle to go there. However, if no one knows about it, no one can go there. How can they show the path to anyone else? No one, apart from the One, can show you the path. Not everyone’s intellect is the same. Some simply listen to religious stories, but there is no benefit in those; there is no benefit. You are now becoming flowers of the garden. You became thorns from flowers and the Father is now making you into flowers from thorns. You were worthy of worship and you then became worshippers. From being satopradhan, you became tamopradhan and impure while taking 84 births. The Father has explained the picture of the ladder to you. No one knows how you now become pure from impure. People sing: O Purifier, come! Come and make us pure! In that case, why do they consider river water and the ocean to be the Purifier and go and bathe in that? They call the Ganges the Purifier, but where did rivers emerge from? They all emerged from the ocean. All of them are the children of the ocean. So, everything has to be understood very clearly. You children sitting here are in the company of the Truth. When you go into bad company outside, they tell you wrong things and you then forget all of these things. By going into bad company, you begin to choke. It is then that you know about doubts. However, these things should not be forgotten. Our Baba is the unlimited Baba, the Teacher and He also takes us across. You have come here with this faith. All the rest is worldly education and worldly languages. This is alokik. The Father says: My birth, too, is alokik. I take a body on loan. I take an old shoe. This is the oldest of the old; this is the oldest shoe. The body that the Father has taken is called a long boot. This is such an easy thing. This is not something to be forgotten. However, Maya even makes you forget such easy things. The Father is the Father. He also gives unlimited teachings which no one else can give. The Father says: You may go outside and see if you receive them anywhere else. All are human beings. They cannot give this knowledge. God only takes the one chariot which is called “The Lucky Chariot”. The Father enters this in order to make you multimillion times fortunate. He is the closest bead. Brahma then becomes Vishnu. Shiv Baba makes this one that and He also makes you into the masters of the world through this one. The land of Vishnu is being established. This is called Raja Yoga to establish a kingdom. Everyone here is listening but Baba knows that it flows away out of the ears of many, whereas some are able to imbibe it and then relate it to others. They are called maharathis. They listen to it and imbibe it and then also explain to others with interest. If the person explaining is a maharathi, others will understand quickly. They will understand less from a horse rider and even less from a foot soldier. The Father knows who the maharathis are and who the horse riders are. There is no question of becoming confused about this. However, Baba sees that some children continue to become confused and then continue tonod off. They sit with their eyes closed. Would someone nod off while earning an income? If you continue to nod off, how would you be able to imbibe this? If someone yawns, Baba understands that he is tired. There can never be tiredness in earning an income. Yawning is a sign of unhappiness. Those who continue to choke inside about something or other will yawn a lot. You are now sitting in the Father’s home; this is also a family. He becomes the Teacher and also the Guru to show you the path. You are called master gurus. Therefore, each of you should now become a right hand of the Father so that you can benefit many others. In all other businesses there is some loss, whereas you change from an ordinary man into Narayan without any loss. Everyone’s earnings are finished. Only the Father teaches you the business of changing from an ordinary man into Narayan. So, then, which study should you pursue? Those who have a lot of wealth think that heaven is here. Did Bapu Gandhiji establish the kingdom of Rama? Ah! It is the same tamopradhan world, and sorrow continues to increase even more. How could this be called the kingdom of Rama? People have become so senseless! Those who are senseless are said to be tamopradhan. Those who are sensible are satopradhan. This cycle continues to turn. There is nothing to ask the Father about in this. It is the Father’s duty to give you the knowledge of the Creator and creation and He continues to do that. He continues to explain everything in the murlis. You receive a response to everything. So, what else would you ask? No one except the Father can explain, so how can you ask anything? You can also write on a board: Come inside and understand how to become everhealthy and everwealthy for 21 births. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Listen very well to what the Father says and imbibe it. Have an interest in relating it to others. Do not just hear it with one ear and let it out of the other. Never yawn at the time of earning an income.
  2. Become the Father’s right hand and bring benefit to many others. Do the business of becoming Narayan and making others Narayan from ordinary human beings.
Blessing: May you be a decorated image whose activity and face show the sparkle of the decoration of purity.
Purity is the decoration of Brahmin life. Let everyone experience the decoration of purity at every moment on your face and in your activity. Let the decoration of purity always be visible in your drishti, on your face and on your hands and feet. Let everyone say that purity is visible in this one’s features. Let there be the sparkle of purity in your eyes and the smile of purity on your lips. Let nothing else be seen: this is known as being an image that is decorated with purity.
Slogan: Wasteful relationships and connections empty your account and so, finish everything wasteful.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 1 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 October 2019

To Read Murli 30 September 2019:- Click Here
01-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – हियर नो ईविल…… यहाँ तुम सतसंग में बैठे हो, तुम्हें मायावी कुसंग में नहीं जाना है, कुसंग लगने से ही संशय के रूप में घुटके आते हैं”
प्रश्नः- इस समय किसी भी मनुष्य को स्प्रीचुअल नहीं कह सकते हैं – क्यों?
उत्तर:- क्योंकि सभी देह-अभिमानी हैं। देह-अभिमान वाले स्प्रीचुअल कैसे कहला सकते हैं। स्प्रीचुअल फादर तो एक ही निराकार बाप है जो तुम्हें भी देही-अभिमानी बनने की शिक्षा देते हैं। सुप्रीम का टाइटिल भी एक बाप को ही दे सकते हैं, बाप के सिवाए सुप्रीम कोई भी कहला नहीं सकते।

ओम् शान्ति। बच्चे जब यहाँ बैठते हो तो जानते हो बाबा हमारा बाबा भी है, टीचर भी है और सतगुरू भी है। तीन की दरकार रहती है। पहले बाप फिर पढ़ाने वाला टीचर और फिर पिछाड़ी में गुरू। यहाँ याद भी ऐसे करना है क्योंकि नई बात है ना। बेहद का बाप भी है, बेहद का माना सबका। यहाँ जो भी आयेंगे कहेंगे यह स्मृति में लाओ। इसमें किसको संशय हो तो हाथ उठाओ। यह वन्डरफुल बात है ना। जन्म-जन्मान्तर कभी ऐसा कोई मिला होगा जिसको तुम बाप, टीचर, सतगुरू समझो। सो भी सुप्रीम। बेहद का बाप, बेहद का टीचर, बेहद का सतगुरू। ऐसा कभी कोई मिला? सिवाए इस पुरूषोत्तम संगमयुग के कभी मिल न सके। इसमें कोई को संशय हो तो हाथ उठावे। यहाँ सब निश्चय बुद्धि होकर बैठे हैं। मुख्य हैं ही यह तीन। बेहद का बाप नॉलेज भी बेहद की देते हैं। बेहद की नॉलेज तो यह एक ही है। हद की नॉलेज तो तुम अनेक पढ़ते आये हो। कोई वकील बनते हैं, कोई सर्जन बनते हैं क्योंकि यहाँ तो डॉक्टर, जज, वकील आदि सब चाहिए ना। वहाँ तो दरकार नहीं। वहाँ दु:ख की कोई बात ही नहीं। तो अब बाप बैठ बेहद की शिक्षा बच्चों को देते हैं। बेहद का बाप ही बेहद की शिक्षा देते हैं फिर आधाकल्प कोई शिक्षा तुमको पढ़ने की नहीं है। एक ही बार शिक्षा मिलती है जो 21 जन्मों के लिए फलीभूत होती है अर्थात् उनका फल मिलता है। वहाँ तो डॉक्टर, बैरिस्टर, जज आदि होते नहीं। यह तो निश्चय है ना। बरोबर ऐसे है ना? वहाँ दु:ख होता नहीं। कर्मभोग होता नहीं। बाप कर्मों की गति बैठ समझाते हैं। वह गीता सुनाने वाले क्या ऐसे सुनाते हैं? बाप कहते हैं मैं तुम बच्चों को राजयोग सिखाता हूँ। उसमें तो लिख दिया है कृष्ण भगवानुवाच। परन्तु वह है दैवीगुणों वाला मनुष्य। शिवबाबा तो कोई नाम धरते नहीं। उनका दूसरा कोई नाम नहीं। बाप कहते हैं मैं यह शरीर लोन लेता हूँ। यह शरीर रूपी मकान हमारा नहीं है, यह भी इनका मकान है। खिड़कियाँ आदि सब हैं। तो बाप समझाते हैं मैं तुम्हारा बेहद का बाप अर्थात् सभी आत्माओं का बाप हूँ, पढ़ाता भी हूँ आत्माओं को। इनको कहा जाता है स्प्रीचुअल फादर अर्थात् रूहानी बाप और कोई को भी रूहानी बाप नहीं कहेंगे। यहाँ तुम बच्चे जानते हो यह बेहद का बाप है। अब स्प्रीचुअल कान्फ्रेन्स हो रही है। वास्तव में स्प्रीचुअल कान्फ्रेन्स तो है ही नहीं। वह तो सच्चे स्प्रीचुअल हैं नहीं। देह-अभिमानी हैं। बाप कहते हैं – बच्चे, देही-अभिमानी भव। देह का अभिमान छोड़ो। ऐसे थोड़ेही किसको कहेंगे। स्प्रीचुअल अक्षर अभी डालते हैं। आगे सिर्फ रिलीजस कान्फ्रेन्स कहते थे। स्प्रीचुअल का कोई अर्थ नहीं समझते हैं। स्प्रीचुअल फादर अर्थात् निराकारी फादर। तुम आत्मायें हो स्प्रीचुअल बच्चे। स्प्रीचुअल फादर आकर तुमको पढ़ाते हैं। यह समझ और कोई में हो न सके। बाप खुद बैठ बतलाते हैं कि मैं कौन हूँ। गीता में यह नहीं है। मैं तुमको बेहद की शिक्षा देता हूँ। इसमें वकील, जज, सर्जन आदि की दरकार नहीं क्योंकि वहाँ तो एकदम सुख ही सुख है। दु:ख का नाम-निशान नहीं होता। यहाँ फिर सुख का नाम-निशान नहीं है, इसको कहा जाता है प्राय:लोप। सुख तो काग विष्टा समान है। जरा-सा सुख है तो बेहद सुख की नॉलेज दे कैसे सकते। पहले जब देवी-देवताओं का राज्य था तो सत्यता 100 प्रतिशत थी। अभी तो झूठ ही झूठ है।

यह है बेहद की नॉलेज। तुम जानते हो यह मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ है, जिसका बीजरूप मैं हूँ। उनमें झाड़ की सारी नॉलेज है। मनुष्यों को यह नॉलेज नहीं है। मैं चैतन्य बीजरूप हूँ। मुझे कहते ही हैं ज्ञान का सागर। ज्ञान से सेकण्ड में गति-सद्गति होती है। मैं हूँ सबका बाप। मुझे पहचानने से तुम बच्चों को वर्सा मिल जाता है। परन्तु राजधानी है ना। स्वर्ग में भी मर्तबे तो नम्बरवार बहुत हैं। बाप एक ही पढ़ाई पढ़ाते हैं। पढ़ने वाले तो नम्बरवार ही होते हैं। इसमें फिर और कोई पढ़ाई की दरकार नहीं रहती। वहाँ कोई बीमार होता नहीं। पाई पैसे की कमाई के लिए पढ़ाई नहीं पढ़ते। तुम यहाँ से बेहद का वर्सा ले जाते हो। वहाँ यह मालूम नहीं पड़ेगा कि यह पद हमको कोई ने दिलाया है। यह तुम अभी समझते हो। हद की नॉलेज तो तुम पढ़ते आये हो। अब बेहद की नॉलेज पढ़ाने वाले को देख लिया, जान लिया। जानते हो बाप, बाप भी है, टीचर भी है, आकर हमको पढ़ाते हैं। सुप्रीम टीचर है, राजयोग सिखलाते हैं। सच्चा सतगुरू भी है। यह है बेहद का राजयोग। वह बैरिस्टरी, डॉक्टरी ही सिखलायेंगे क्योंकि यह दुनिया ही दु:ख की है। वह सब है हद की पढ़ाई, यह है बेहद की पढ़ाई। बाप तुमको बेहद की पढ़ाई पढ़ाते हैं। यह भी जानते हो यह बाप, टीचर, सतगुरू कल्प-कल्प आते हैं फिर यही पढ़ाई पढ़ाते हैं सतयुग-त्रेता के लिए। फिर प्राय:लोप हो जाता है। सुख की प्रालब्ध पूरी हो जाती है ड्रामा अनुसार। यह बेहद का बाप बैठ समझाते हैं, उनको ही पतित-पावन कहा जाता है। कृष्ण को त्वमेव माता च पिता वा पतित-पावन कहेंगे क्या? इनके मर्तबे और उनके मर्तबे में रात-दिन का फ़र्क है। अब बाप कहते हैं मुझे पहचानने से तुम सेकण्ड में जीवनमुक्ति पा सकते हो। अब कृष्ण भगवान् अगर होता तो कोई भी झट पहचान ले। कृष्ण का जन्म कोई दिव्य अलौकिक नहीं गाया हुआ है। सिर्फ पवित्रता से होता है। बाप तो कोई के गर्भ से नहीं निकलते हैं। समझाते हैं मीठे-मीठे रूहानी बच्चों, रूह ही पढ़ती है। सब संस्कार अच्छे वा बुरे रूह में रहते हैं। जैसे-जैसे कर्म करते हैं, उस अनुसार उन्हें शरीर मिलता है। कोई बहुत दु:ख भोगते हैं। कोई काने, कोई बहरे होते हैं। कहेंगे पास्ट में ऐसे कर्म किये हैं जिसका यह फल है। आत्मा के कर्मों अनुसार ही रोगी शरीर आदि मिलता है।

अभी तुम बच्चे जानते हो – हमको पढ़ाने वाला है गॉड फादर। गॉड टीचर, गॉड प्रीसेप्टर है। उसको कहते है गॉड परम आत्मा। उसको मिलाकर परमात्मा कहते हैं, सुप्रीम सोल। ब्रह्मा को तो सुप्रीम नहीं कहेंगे। सुप्रीम अर्थात् ऊंच ते ऊंच, पवित्र ते पवित्र। मर्तबे तो हरेक के अलग-अलग हैं। कृष्ण का जो मर्तबा है वह दूसरे को मिल नहीं सकता। प्राइम मिनिस्टर का मर्तबा दूसरे को थोड़ेही देंगे। बाप का भी मर्तबा अलग है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर का भी अलग है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर देवता है, शिव तो परमात्मा है। दोनों को मिलाकर शिव शंकर कैसे कहेंगे। दोनों अलग-अलग हैं ना। न समझने के कारण शिव शंकर को एक कह देते हैं। नाम भी ऐसे रख देते हैं। यह सब बातें बाप ही आकर समझाते हैं। तुम जानते हो यह बाबा भी है, टीचर भी है, सत-गुरू भी है। हरेक मनुष्य को बाप भी होता है, टीचर भी होता है और गुरू भी होता है। जब बुढ़े होते हैं तो गुरू करते हैं। आजकल तो छोटेपन में ही गुरू करा देते हैं, समझते हैं अगर गुरू नहीं किया तो अवज्ञा हो जायेगी। आगे 60 वर्ष के बाद गुरू करते थे। वह होती है वानप्रस्थ अवस्था। निर्वाण अर्थात् वाणी से परे स्वीट साइलेन्स होम, जिसमें जाने के लिए आधाकल्प तुमने मेहनत की है। परन्तु पता ही नहीं तो कोई जा नहीं सकते। किसको रास्ता बता कैसे सकते। एक के सिवाए तो कोई रास्ता बता न सके। सबकी बुद्धि एक जैसी नहीं होती है। कोई तो जैसे कथायें सुनते हैं, फायदा कुछ नहीं। उन्नति कुछ नहीं। तुम अभी बगीचे के फूल बनते हो। फूल से कांटे बने, अब फिर कांटे से फूल बाप बनाते हैं। तुम ही पूज्य फिर पुजारी बने। 84 जन्म लेते-लेते सतोप्रधान से तमोप्रधान पतित बन गये। बाप ने सीढ़ी सारी समझाई है। अब फिर पतित से पावन कैसे बनते हैं, यह किसको भी पता नहीं। गाते भी हैं ना हे पतित-पावन आओ, आकर हमको पावन बनाओ फिर पानी की नदियाँ सागर आदि को पतित-पावन समझ क्यों जाकर स्नान करते हैं। गंगा को पतित-पावनी कह देते हैं। परन्तु नदियां भी कहाँ से निकली? सागर से ही निकलती हैं ना। यह सभी सागर की सन्तान हैं तो हरेक बात अच्छी रीति समझने की होती है।

यहाँ तो तुम बच्चे सतसंग में बैठे हो। बाहर कुसंग में जाते हो तो तुमको बहुत उल्टी बातें सुनायेंगे। फिर यह इतनी सब बातें भूल जायेंगी। कुसंग में जाने से घुटका खाने लग पड़ते हैं, संशय का तब मालूम पड़ता है। परन्तु यह बातें तो भूलनी नहीं चाहिए। बाबा हमारा बेहद का बाबा भी है, टीचर भी है, पार भी ले जाते हैं, इस निश्चय से तुम आये हो। वह सभी हैं जिस्मानी लौकिक पढ़ाई, लौकिक भाषायें। यह है अलौकिक। बाप कहते हैं मेरा जन्म भी अलौकिक है। मैं लोन लेता हूँ। पुरानी जुत्ती लेता हूँ। सो भी पुराने ते पुरानी, सबसे पुरानी है यह जुत्ती। बाप ने जो लिया है, इसको लांग बूट कहते हैं। यह कितनी सहज बात है। यह तो कोई भूलने की नहीं है। परन्तु माया इतनी सहज बातें भी भुला देती है। बाप, बाप भी है, बेहद की शिक्षा देने वाला भी है, जो और कोई दे न सके। बाबा कहते हैं भल जाकर देखो कहाँ से मिलती है। सब हैं मनुष्य। वह तो यह नॉलेज दे न सकें। भगवान एक ही रथ लेते हैं, जिसको भाग्यशाली रथ कहा जाता है, जिसमें बाप की प्रवेशता होती है, पदमापदम भाग्यशाली बनाने। बिल्कुल नजदीक का दाना है। ब्रह्मा सो विष्णु बनते हैं। शिव-बाबा इनको भी बनाते हैं, तुमको भी इन द्वारा विश्व का मालिक बनाते हैं। विष्णु की पुरी स्थापन होती है, इसको कहा जाता है राजयोग, राजाई स्थापन करने लिए। अभी यहाँ सुन तो सब रहे हैं, परन्तु बाबा जानते हैं बहुतों के कानों से बह जाता है, कोई धारण कर और सुना सकते हैं। उनको कहा जाता है महारथी। सुनकर फिर धारण करते हैं, औरों को भी रूचि से समझाते हैं। महारथी समझाने वाला होगा तो झट समझेंगे, घोड़े-सवार से कम, प्यादे से और भी कम। यह तो बाप जानते हैं कौन महारथी हैं, कौन घोड़ेसवार हैं। अब इसमें मूँझने की तो बात ही नहीं। परन्तु बाबा देखते रहते हैं बच्चे मूँझते हैं फिर झुटके खाते रहते हैं। आंखें बन्द कर बैठते हैं। कमाई में कभी घुटका आता है क्या? झुटका खाते रहेंगे तो फिर धारणा कैसे होगी। उबासी से बाबा समझ जाते हैं यह थका हुआ है। कमाई में कभी थकावट नहीं होती। उबासी है उदासी की निशानी। कोई न कोई बात के घुटके अन्दर खाते रहने वालों को उबासी बहुत आती है। अभी तुम बाप के घर में बैठे हो, तो परिवार भी है, टीचर भी बनते हैं, गुरू भी बनते हैं रास्ता बताने के लिए। मास्टर गुरू कहा जाता है। तो अब बाप का राइट हैण्ड बनना चाहिए ना। जो बहुतों का कल्याण कर सकते हैं। धन्धे सभी में है नुकसान, बिगर धन्धे नर से नारायण बनने के। सभी की कमाई खत्म हो जाती है। नर से नारायण बनने का धन्धा बाप ही सिखलाते हैं। तो फिर कौन सी पढ़ाई पढ़नी चाहिए। जिनके पास धन बहुत है, वह समझते हैं स्वर्ग तो यहाँ ही है। बापू गांधी ने रामराज्य स्थापन किया? अरे, दुनिया तो यह पुरानी तमोप्रधान है ना और ही दु:ख बढ़ता जाता है, इनको रामराज्य कैसे कहेंगे। मनुष्य कितने बेसमझ बन पड़े हैं। बेसमझ को तमोप्रधान कहा जाता है। समझदार होते हैं सतोप्रधान। यह चक्र फिरता रहता है, इसमें कुछ भी बाप से पूछने का नहीं रहता। बाप का फ़र्ज है रचता और रचना की नॉलेज देना। वह तो देते रहते हैं। मुरली में सब समझाते रहते हैं। सभी बातों का रेसपॉन्ड मिल जाता है। बाकी पूछेंगे क्या? बाप के सिवाए कोई समझा ही नहीं सकते तो पूछ भी कैसे सकते। यह भी तुम बोर्ड पर लिख सकते हो एवरहेल्दी, एवरवेल्दी 21 जन्म के लिए बनना है तो आकर समझो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप जो सुनाते हैं उसे सुनकर अच्छी तरह धारण करना है। दूसरों को रूचि से सुनाना है। एक कान से सुन दूसरे से निकालना नहीं है। कमाई के समय कभी उबासी नहीं लेनी है।

2) बाबा का राइट हैण्ड बन बहुतों का कल्याण करना है। नर से नारायण बनने और बनाने का धन्धा करना है।

वरदान:- चलन और चेहरे से पवित्रता के श्रृंगार की झलक दिखाने वाले श्रंगारी मूर्त भव
पवित्रता ब्राह्मण जीवन का श्रंगार है। हर समय पवित्रता के श्रंगार की अनुभूति चेहरे वा चलन से औरों को हो। दृष्टि में, मुख में, हाथों में, पांवों में सदा पवित्रता का श्रंगार प्रत्यक्ष हो। हर एक वर्णन करे कि इनके फीचर्स से पवित्रता दिखाई देती है। नयनों में पवित्रता की झलक है, मुख पर पवित्रता की मुस्कराहट है। और कोई बात उन्हें नज़र न आये – इसको ही कहते हैं – पवित्रता के श्रंगार से श्रंगारी हुई मूर्त।
स्लोगन:- व्यर्थ सम्बन्ध-सम्पर्क भी एकाउन्ट को खाली कर देता है इसलिए व्यर्थ को समाप्त करो।

TODAY MURLI 1 OCTOBER 2018 DAILY MURLI (English) – Aaj ki Murli

Today Murli Brahma kumaris : 1 October 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 September 2018 :- Click Here

01/10/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father’s desire is that you children become full destroyers of attachment. When you make this firm promise: Baba, You are mine and I am Yours, true love can be forged.
Question: What is the main difference between the sacrificial fire created by Rudra Shiv Baba and those being created by human beings?
Answer: 1) Whatever sacrificial fires human beings create are material sacrificial fires into which they put sesame seeds and other grains. This sacrificial fire that the Father has created is the imperishable sacrificial fire of knowledge into which the whole of the old world is to be sacrificed. 2) Those sacrificial fires continue for a short time whereas this sacrificial fire will continue until destruction takes place. When you children reach your karmateet stage, this sacrificial fire will end.
Song: This is a battle of the strong with the weak. 

Om shanti. You children now know that this is called a school as well as the sacrificial fire of knowledge. In terms of a school, an aim and objective is definitely needed. This is a sacrificial fire and also a school. This is the sacrificial fire of knowledge of Rudra which those people copy. They create material sacrificial fires. They pour offerings of sesame seeds and other grains into those. They also have another type of very big sacrificial fire which they surround with the scriptures. They do this on a very big piece of land. On one side, they keep the rice, ghee, flour etc. and, on the other side, they place all the scriptures. Whatever scripture you ask for, they will relate something from that, and then they will continue to pour offerings into the sacrificial fire. The Father says: Rudra is My name. They say that God Rudra created the sacrificial fire of knowledge. So, that was called the sacrificial fire of the knowledge of Rudra, just as, they named a street Nehru Marg (road), and Nehru Park etc. after Nehru. Rudra is God Shiva. The sacrificial fire of the knowledge of Rudra was created by Him. The whole of the old world is to be sacrificed into this sacrificial fire. This would not be in anyone’s intellect. It is such a big world and the cities are so far apart. Everything will be sacrificed into this imperishable sacrificial fire of knowledge. The old world is definitely to be destroyed and then the new world created. N atural calamities also help destruction take place. So this is the imperishable sacrificial fire of knowledge of Rudra in which the horse is sacrificed for receiving sovereignty. “Imperishable” means that it will continue until destruction takes place. No one else has such a sacrificial fire that continues all the time. At the most, they would make it continue for a month. They also relate the Gita for a month. The Father explains: I have created this sacrificial fire of knowledge. This is the horse that is sacrificed for sovereignty, that is, your chariot has to be sacrificed; it has to be surrendered. They have given it another name. They show the sacrificial fire of Daksh Prajapita in which they burn a horse. That is a long story. The Father explains: This is My imperishable sacrificial fire of knowledge. It is an imperishable sacrificial fire created by the imperishable One. It isn’t that it will continue all the time. This sacrificial fire will continue until the time comes when the whole of the old world is to be sacrificed. The Father is the Ocean of Knowledge. There are so many scriptures of the path of devotion. The Father is the Ocean of Knowledge and so He would surely have new knowledge. The Father gives His full introduction and He also explains how the world cycle turns through which souls become trikaldarshi. No one else can give the knowledge of being trikaldarshi. Firstly, you children have to imbibe this knowledge and secondly, with the power of yoga, you also have to become conquerors of sinful actions. It takes time for the burdens of sin of many births that are on your heads to be burnt. It has been so many years and you still haven’t become karmateet. When you reach your karmateet stage, the sacrificial fire will also end. This is a very important sacrificial fire. You can see signs of how preparations are being made. As you progress further, you will see that even the natural calamities are making their preparations. Sometimes, there will be very strong floods, sometimes earthquakes and sometimes there will be famine.Those people continue to tell lies about how they have made four-year plans and that there will then be a lot of grain available. Ah, but there will also be so many people eating all of that. It wouldn’t be just human beings eating it; there will also be locusts and insects etc. When there are floods, they cause a lot of damage. Those poor people don’t know anything. You know that there will definitely be famine etc. The signs of that are visible. If even a small war takes place, food stops coming in. In the earlier wars, so many steamers were sunk. They caused a lot of damage to one another. The Father says: This sacrificial fire was also created 5000 years ago and you also studied Raja Yoga. A sacrificial fire is created by brahmin priests. They have written stories of war in the Gita. They have also mentioned Sanjay. All of that is the paraphernalia of the path of devotion. That too is imperishable. The same paraphernalia will emerge once again on the path of devotion. The Ramayana etc. and the scriptures that have emerged will emerge again. All the kingdoms that have continued – the British, the Muslim etc., those who have come and gone, will come again. P artition will take place again. You can understand these things. You are numberwise too; some don’t understand anything at all. The Father explains how many sacrificial fires are created. You have to explain to them: In fact, the sacrificial fire of the knowledge of Rudra, in which the horse was sacrificed for attaining sovereignty, was created by Rudra God Shiva, not Krishna. Krishna will receive that same form in the golden age. He cannot receive it at any other time because his name, form, place and time all continue to change. It is not possible that Krishna would come and call Himself the Purifier. Only the one Supreme Soul is the Purifier. You cannot ask: Why did He not reveal His form earlier? No; He would not tell you everything at the beginning. You would ask: Why did He not give us this knowledge earlier? Why does He not give us the knowledge in just one day? No; He is the Ocean of Knowledge, and so He will definitely continue to speak it little by little. It isn’t that you would study all of that at the same time. You would study, numberwise, and the study takes time. This is called the imperishable sacrificial fire of the knowledge of Rudra. This is not written anywhere. In the scriptures these words are mentioned just for the sake of it. Ancient easy Raja Yoga of Bharat. Achcha, ancient means from when? From the beginning. So, surely, heaven would have been created from this imperishable sacrificial fire of knowledge. The Father says: I come at the confluence age of every cycle. They have then made a mistake and changed the time. They have given the golden age a duration of hundreds of thousands of years. They have told lies. There are four parts. There are also four equal parts in the swastika: knowledge and devotion. For half the cycle it is the day, knowledge, and for half the cycle it is the night, devotion. The reward of knowledge is butter and the reward of devotion is buttermilk. While gradually falling, some completely die. The new world definitely has to become old. The degrees continue to decrease. This is why this is called the corrupt, vicious world; it is the devilish world. You know that God cannot be found by your doing devotion etc. People have been doing devotion all the time; it never ends. If they were to find God, their devotion would end. Devotion has to last for half the cycle. All of these things have to be explained to human beings. You should use these pictures to make them see how the world becomes new. The new world is established and the old world is then destroyed. An exhibition etc. has to be inaugurated by an important person. You have to take their help. They are then also given thanks. Send them a telegram to convey your congratulations. They have such big titles given to them. They have even given themselves the title: Shri Shri. The Father, Shri Shri, explains: The world was elevated and it has now become corrupt. The Father has come to make it elevated once again. They give themselves the name, “Shri” in advance. In fact, Shri Lakshmi and Shri Narayan can only be said to be in the golden age. Kings never used to be given the title , “Shri”. They are called: His Highness. Even the kings worship the greatest His Holiness Lakshmi and Narayan because they are pure whereas they themselves are impure. Pure kings are called His Holiness. Now, instead of His Highness, they have given many other titles to everyone. They continue to say: Shri Shri. The unlimited Father is now making you Shri. By using the pictures, you can explain how the new world is established. “We are doing the service of making corrupt ones elevated, so please come and carry out the opening .  Explain to them that ‘Liberation-in-life in a secon d  has been remembered. Those who explain to them should be very active; they should be very alert. Those of the military remain so tiptop. The name of you children is very great: Shiv Shakti Army. This knowledge is received by weak ones and those with stone intellects. The things here are very wonderful. Look, it is God, the Highest on High, and see whom He is teaching! Hunchbacks and stone intellects! God speaks: I teach them Raja Yoga. This is fixed in the drama. However, not everyone considers himself to be a sinful soul. The Father says: If you become pure in this final birth, you will receive liberation-in-life in a second. Many people come. They are amazed by knowledge, they listen to it, they speak about it, they belong to Baba. Then they fall and leave. This has been happening from the beginning. In the morning, they say that they have firm faith and, in the evening, they would say that they have doubt and that they are leaving because they are unable to continue. “The destination is too high, so I am taking leave now.” This is the destination of the drama. They then divorce the Father. Maya is so powerful that she slaps you while you are moving along. Children say: Baba, tell Maya to become a little gentle. Baba says: I tell Maya to become very hot. The Father says: Remain cautious. It should not be that Maya slaps you and you become trapped. You have been asking to live in a household and attain liberation-in-life like Janak. The Father says: Become pure for one birth and you will become the masters of heaven. People love poison (the vices) so much. While moving along, they fall. If the kumaris don’t want to get married, the Government cannot do anything. They can explain: Why should we become impure that we would have to become worshippers and bow our heads in front of everyone? If I remain a kumari, everyone will bow down to me. So, why should I not remain worthy of worship? The unlimited Father says: Become pure and worthy of worship. There is just the one examination in Raja Yoga. So many ascend and then fall. Each one plays his or her own part. The result s will still be the same as they were in the previous cycle. This is the drama and we are actors. When you become full destroyers of attachment, full love can be forged with the Father. “Baba, I will now remember You alone. I will definitely claim my inheritance from You.” You have to make such a promise. Only then will both husband and wife become pure and go to the ashram of heaven. Both will sit on the pyre of knowledge. Many couples will become like that. Then the tree will begin to grow very quickly. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. You have to sacrifice everything you have, including your chariot, into this imperishable sacrificial fire of the knowledge. Remain very, very alert and active for service.
  2. No matter how hot Maya is, remain cautious and save yourself from being slapped by her. Don’t be afraid.
Blessing: May you be happy-hearted and constantly laugh, sing and fly by making the one Father your world.
It is said that the world changes with your vision, and so your world has changed with your spiritual vision. The Father is now your world. There is a difference between your world before and your world now: Previously you had your intellect wandering the world and now, the Father has become your world and so your intellect has stopped wandering. You have found the Father who enables you to attain unlimited attainments and so what more could you want? So, just laugh, sing and fly and remain constantly happy.
Slogan: When your heart is clean, your desires continue to be fulfilled. All attainments automatically come in front of you.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 1 OCTOBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 October 2018

To Read Murli 30 September 2018 :- Click Here
01-10-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप की आश है बच्चे पूरा-पूरा नष्टोमोहा बनें, जब पक्का वायदा करें – बाबा, आप हमारे, हम आपके, तब सच्ची प्रीत जुटे”
प्रश्नः- रूद्र शिवबाबा द्वारा रचे हुए यज्ञ और मनुष्यों द्वारा रचे जा रहे यज्ञों में मुख्य अन्तर क्या है?
उत्तर:- मनुष्य जो भी यज्ञ रचते, उसमें जौ-तिल आदि स्वाहा करते, वह मैटेरियल यज्ञ हैं। बाप ने जो यज्ञ रचा है यह अविनाशी ज्ञान यज्ञ है, इसमें सारी पुरानी दुनिया स्वाहा हो जाती है। 2- वह यज्ञ थोड़े समय तक चलते, यह यज्ञ जब तक विनाश न हो तब तक चलता रहेगा। जब तुम बच्चे कर्मातीत अवस्था तक पहुँचेंगे तब यज्ञ की समाप्ति होगी।
गीत:- निर्बल से लड़ाई बलवान की…….. 

ओम् शान्ति। अभी यह बच्चे जानते हैं कि इनको पाठशाला भी कहेंगे और ज्ञान यज्ञ भी कहेंगे। पाठशाला के हिसाब से एम आब्जेक्ट तो जरूर चाहिए। अभी यह यज्ञ का यज्ञ भी है और पाठशाला भी है। यह रूद्र ज्ञान यज्ञ है, वे लोग इनकी कॉपी करते हैं। मैटेरियल यज्ञ रचते हैं। उनमें जौ-तिल आदि की आहुति डालते हैं और दूसरा फिर बहुत बड़ा यज्ञ भी रचते हैं जहाँ चारों तरफ शास्त्रों को रखते हैं। बहुत बड़ी जमीन ले लेते हैं। फिर एक तरफ चावल, घी, आटा आदि सब रखते हैं और दूसरे तरफ शास्त्र भी सब रखते हैं। जो शास्त्र मांगो वह सुनायेंगे फिर वहाँ यज्ञ में स्वाहा भी करते रहते। बाप कहते हैं यह रूद्र तो मेरा नाम है। कहते भी हैं रूद्र भगवान् ने ज्ञान यज्ञ रचा था। इसका नाम पड़ गया रूद्र ज्ञान यज्ञ। जैसे नेहरू के बाद नाम रखते हैं – नेहरू मार्ग, नेहरू पार्क आदि। अब रूद्र तो है भगवान् शिव। उसने ही रूद्र ज्ञान यज्ञ रचा है। इस यज्ञ में सारी पुरानी सृष्टि की आहुति पड़ती है। यह कोई की बुद्धि में थोड़ेही होगा। कितनी बड़ी सृष्टि है। कितना दूर-दूर शहर हैं। सब इस अविनाशी ज्ञान यज्ञ में आहुति पड़ जायेंगे। पुरानी दुनिया का विनाश तो जरूर होना है, फिर नई दुनिया बनेगी। विनाश होने में नैचुरल कैलेमिटीज़ भी मदद करती है, तो यह है रूद्र राजस्व अश्वमेध अविनाशी ज्ञान यज्ञ। अविनाशी माना जब तक विनाश हो तब तक चलता रहे। ऐसा यज्ञ किसका चलता नहीं है। बहुत में बहुत एक मास चलायेंगे। गीता भी एक मास सुनाते हैं। अब बाप समझाते हैं मैंने यह ज्ञान यज्ञ रचा है। यह है राजस्व अश्वमेध यानी तुम्हारा जो रथ है, उनको स्वाहा करना है, बलि चढ़ाना है। उन्होंने नाम दूसरा रख दिया है। दक्ष्य प्रजापति का यज्ञ दिखाते हैं, उसमें घोड़े को जलाते हैं। बड़ी कहानी है। बाप समझाते हैं यह है मेरा अविनाशी ज्ञान यज्ञ। अविनाशी द्वारा अविनाशी यज्ञ। ऐसे नहीं कि सदैव चलता रहेगा। जब सारी दुनिया के स्वाहा होने का समय आये तब तक यह यज्ञ चलना है क्योंकि बाप है ज्ञान का सागर। भक्ति के तो ढेर शास्त्र हैं। ज्ञान का सागर बाप है तो जरूर उनके पास नया ज्ञान होगा। बाप अपना पूरा परिचय देते हैं और फिर सृष्टि चक्र कैसे फिरता है यह भी समझाते हैं, जिससे आत्मा त्रिकालदर्शी बनती है। त्रिकालदर्शीपने का ज्ञान और कोई दे न सके। एक तो ज्ञान को धारण करना है, दूसरा तुम बच्चों को योगबल से विकर्माजीत बनना है। जन्म-जन्मान्तर के पापों का बोझा जो सिर पर है, वह जलने में टाइम लगता है। कितने वर्ष हुए हैं तो भी कर्मातीत नहीं हुए हैं। कर्मातीत अवस्था जब आती है तब यज्ञ भी समाप्त होता है। यह बहुत बड़ा भारी यज्ञ है। आसार भी देखते हो, तैयारियाँ हो रही हैं। आगे चलकर तुम देखेंगे नैचुरल कैलेमिटीज की भी तैयारी हो रही हैं। कभी जोर से फ्लड्स होंगे, कभी अर्थक्वेक, कभी फैमन (अकाल) होगा। वो लोग तो गपोड़े मारते हैं कि 4 वर्ष का प्लैन बनाया है फिर अनाज बहुत हो जायेगा। अरे, खाने वाले मनुष्य भी तो बहुत जास्ती हैं। सिर्फ मनुष्य थोड़ेही, टिड्डियां, मक्कड़ आदि भी तो खा जाते हैं। फ्लड्स आते हैं, बहुत नुकसान कर देते हैं। यह बिचारों को पता नहीं पड़ता। तुम जानते हो फैमन आदि पड़ना जरूर है। आसार दिखाई पड़ते हैं। थोड़ी लड़ाई लग जाए तो अनाज आना ही बन्द हो जाए। आगे लड़ाई में कितने स्टीमर्स डूबे थे। एक-दो का बहुत नुकसान किया था।

बाप कहते हैं 5 हजार वर्ष पहले भी यह यज्ञ रचा था और तुम राजयोग सीखे थे। यज्ञ रचा जाता है ब्राह्मणों द्वारा। गीता में तो लड़ाई आदि की बातें लिख दी हैं। संजय आदि भी हैं। यह सब है भक्तिमार्ग की सामग्री। यह भी अविनाशी है। फिर से भक्तिमार्ग में वही सामग्री निकलेगी। रामायण आदि जो भी शास्त्र निकले हैं, फिर निकलेंगे। जिन्हों की राजधानी चली है, अंग्रेज आये, मुसलमान आये, यह सब होकर गये, फिर आयेंगे। फिर भी पार्टीशन होगा। इन बातों को तुम जान सकते हो, तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं। कोई तो कुछ भी नहीं जानते। तो बाप समझाते हैं कितने यज्ञ रचते हैं। उन्हों को समझाना है – वास्तव में है अश्वमेध अविनाशी रूद्र ज्ञान यज्ञ, जो रूद्र शिव भगवान् ने ही रचा था, कृष्ण ने नहीं रचा। कृष्ण का वही चित्र तो सतयुग में मिलेगा, फिर कभी मिल न सके क्योंकि वह नाम, रूप, देश, काल तो सब बदलता जाता है। ऐसे तो हो नहीं सकता कि कृष्ण आकर अपने को पतित-पावन कहलाये। पतित-पावन एक ही परमात्मा है। ऐसे नहीं कि तुम कहेंगे पहले से ही क्यों नहीं रूप दिखाया? नहीं, ऐसे थोड़ेही कि सब पहले से ही बता देंगे। तुम कहेंगे पहले से यह ज्ञान क्यों नहीं देते थे, एक ही रोज़ में क्यों नहीं ज्ञान देते? परन्तु नहीं, यह तो ज्ञान सागर है सो जरूर आहिस्ते-आहिस्ते सुनाते रहेंगे। ऐसे थोड़ेही कि सब एक ही टाइम पढ़ लेंगे। नम्बरवार पढ़ेंगे और पढ़ाई में टाइम लगता है। इसका नाम ही है अविनाशी रूद्र ज्ञान यज्ञ। अब यह तो कहाँ भी लिखा हुआ नहीं है। शास्त्रों में निमित्त मात्र सिर्फ अक्षर हैं भारत का प्राचीन सहज राजयोग। अच्छा, प्राचीन कब? शुरूआत में। तो जरूर इस अविनाशी ज्ञान यज्ञ से ही स्वर्ग बनाया होगा। बाप कहते हैं मैं आता हूँ कल्प-कल्प संगमयुगे। उन्होंने भूल कर दी है, टाइम भी बदल दिया है। फिर सतयुग की आयु लाखों वर्ष लिख दी है, गपोड़े लगा दिये हैं। यह तो हैं 4 भाग। स्वास्तिका में भी 4 हिस्से कर देते हैं – ज्ञान और भक्ति। आधाकल्प ज्ञान दिन, आधाकल्प भक्ति रात। ज्ञान की प्रालब्ध मक्खन मिलता है, भक्ति की प्रालब्ध छांछ मिलती है। गिरते-गिरते एकदम ख़त्म हो जाते हैं। नई दुनिया को फिर पुराना जरूर बनना है। कलायें कम होती जाती हैं इसलिए अब इनको भ्रष्टाचारी, विशश कहा जाता है। आसुरी दुनिया है ना। तुम जानते हो इन भक्ति आदि करने से कभी भगवान् नहीं मिल सकता। भक्ति तो करते ही आये हैं, बन्द होती नहीं। अगर भगवान् मिल जाए तो भक्ति बन्द हो जाए ना। आधाकल्प भक्ति को चलना है। यह सब बातें मनुष्यों को समझानी पड़ती हैं। दुनिया नई कैसे बनती है, इसका चित्रों से साक्षात्कार कराना है। पुरानी दुनिया खत्म हो फिर नई स्थापन होती है। अब एक्जीवीशन (प्रदर्शनी) आदि की, किसी बड़े से ओपनिंग करानी होती है। मदद तो लेनी पड़ती है ना। उनको फिर थैंक्स दी जाती है। बधाई देने लिए तार दी जाती है। कितने बड़े-बड़े टाइटिल अपने ऊपर रखवा दिये हैं। श्री श्री का टाइटिल भी रखा लिया है। श्री श्री बाप समझाते हैं – श्रेष्ठाचारी दुनिया थी, अब भ्रष्टाचारी है। फिर बाप श्रेष्ठाचारी बनाने आये हैं। वह फिर पहले से ही अपने ऊपर श्री नाम रख देते हैं। वास्तव में श्री लक्ष्मी, श्री नारायण सतयुग में ही कहा जाता है। राजाओं को श्री का टाइटिल कभी नहीं देते थे। उनको फिर हिज़ हाइनेस कहते हैं। सबसे बड़े हिज होलीनेस लक्ष्मी-नारायण की राजायें भी पूजा करते हैं क्योंकि वह पवित्र हैं। खुद पतित हैं। पावन राजाओं को हिज होलीनेस कहा जाता है। अभी तो हिज हाइनेस के बदले बहुत टाइटिल सबको दे देते हैं। श्री श्री कहते रहते हैं। अभी बेहद का बाप तुमको श्री बना रहे हैं। नई दुनिया कैसे स्थापन होती है, चित्रों पर ही समझा सकते हैं। हम भ्रष्टाचारी से श्रेष्ठाचारी बनाने की सेवा करते हैं, आप ओपनिंग करो। उन्हें समझाना चाहिए कि सेकेण्ड में जीवनमुक्ति गाया हुआ है ना। समझाने वाला बड़ा एक्टिव होना चाहिए, फुर्त होना चाहिए। मिलेट्री वाले कितने टिपटॉप रहते हैं। तुम बच्चों का नाम कितना बड़ा है शिव शक्ति सेना! यह ज्ञान मिलता ही है अबलाओं, अहिल्याओं को। यहाँ की बातें ही वन्डरफुल हैं। ऊंच ते ऊंच भगवान् और पढ़ाते देखो किन्हों को हैं! अहिल्याओं, कुब्जाओं को। भगवानुवाच – उन्हों को राजयोग सिखलाता हूँ, ड्रामा में ऐसी नूँध है। परन्तु अपने को सब पाप आत्मायें समझते थोड़ेही हैं। बाप कहते हैं यह अन्तिम जन्म पवित्र बनेंगे तो एक सेकेण्ड में जीवनमुक्ति पा सकते हो। आते तो बहुत हैं। आश्चर्यवत् सुनन्ती, कथन्ती, बाबा का बनन्ती फिर भी गिरन्ती और भागन्ती हो जाते हैं। यह शुरू से लेकर होता रहता है। सुबह को कहेंगे हमको पक्का निश्चय है, शाम को कहेंगे मुझे संशय है, मैं जाता हूँ, मैं चल नहीं सकता। मंजिल ऊंची है, मैं छुट्टी लेता हूँ। ड्रामा की भावी। बाप को फ़ारकती दे देते हैं। माया इतनी प्रबल है जो चलते-चलते थप्पड़ लगा देती है। बच्चे कहते हैं – बाबा, माया को कहो थोड़ी नर्म हो जाए। बाबा कहते – मैं तो माया को कहता हूँ खूब गर्म हो। बाप कहते हैं ख़बरदार रहना, ऐसे नहीं कि माया थप्पड़ मार दे और तुम फँस पड़ो। तुम मांगते ही हो जनक मिसल गृहस्थ व्यवहार में रहते जीवनमुक्ति पायें।

बाप कहते हैं एक जन्म पवित्र बनो तो तुम स्वर्ग के मालिक बनेंगे। मनुष्यों की ज़हर से (विकारों से) कितनी दिल है। चलते-चलते गिर पड़ते हैं। हम शादी करना नहीं चाहते तो गवर्मेन्ट कुछ नहीं कर सकती है। समझा सकते हैं कि हम पतित बने ही क्यों जो पुजारी बन सबके आगे सिर झुकाना पड़े। मैं कुमारी हूँ तो सब मेरे आगे सिर झुकाते हैं, तो हम क्यों न पूज्य रहें। बेहद का बाप कहते हैं कि पवित्र पूज्य बनो। एक ही राजयोग का इम्तहान है। कितने चढ़ते और गिरते हैं। हर एक अपना-अपना पार्ट बजाता है। रिजल्ट फिर भी वही रहेगी जो कल्प पहले हुई होगी। यह ड्रामा है, हम एक्टर्स हैं। पूरा नष्टोमोहा बनें तब बाप से पूरी प्रीत जुटे। बाबा, बस हम तो आपको ही याद करेंगे, आपसे वर्सा लेकर ही छोड़ेंगे। ऐसी प्रतिज्ञा करनी पड़े, तब ही स्त्री-पुरूष दोनों पवित्र बन स्वर्गधाम जा सकें। दोनों ही ज्ञान चिता पर बैठ जायेंगे। ऐसे बहुत जोड़े बनेंगे। फिर जल्दी-जल्दी झाड़ बढ़ना शुरू हो जायेगा। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस अविनाशी ज्ञान यज्ञ में अपने इस रथ सहित सब कुछ स्वाहा करना है। सर्विस के लिए बहुत-बहुत चुस्त और फुर्त बनना है।

2) माया कितनी भी गर्म हो, सावधान रह उसके थप्पड़ से स्वयं को बचाना है। घबराना नहीं है।

वरदान:- एक बाप को अपना संसार बनाकर सदा हंसने, गाने और उड़ने वाले प्रसन्नचित भव
कहा जाता है दृष्टि से सृष्टि बदल जाती है तो आपकी रूहानी दृष्टि से सृष्टि बदल गई, अभी आपके लिए बाप ही संसार है। पहले के संसार और अभी के संस्कार में फ़र्क हो गया, पहले संसार में बुद्धि भटकती थी, अभी बाप ही संसार हो गया तो बुद्धि का भटकना बंद हो गया। बेहद की प्राप्तियां कराने वाला बाप मिल गया तो और क्या चाहिए इसलिए हंसते गाते, उड़ते सदा प्रसन्नचित रहो।
स्लोगन:- दिल साफ हो तो मुराद हांसिल होती रहेगी, सर्व प्राप्तियां स्वत: आपके समाने आयेंगी।
Font Resize