1 july ki murli

TODAY MURLI 1 JULY 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 1 July 2020

01/07/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, open big shops (centres) in the big cities. Have meetings, make plans and think about how to increase service.
Question: Everyone knows about physical wonders, but what is the biggest wonder of all that only you children know about?
Answer: The biggest wonder of all is that the Father, the Bestower of Salvation for All, Himself, comes and teaches us. In order to tell everyone about this wonderful thing, you have to have a lot of show at your shops, because it is only when people see a lot of show that they go somewhere. Therefore, the best and biggest shop should be in the capital so that everyone can come and understand.
Song: To live in Your lane and to die in Your lane.

Om shanti. God Shiva speaks. It can also be said “God Rudra speaks” because it is not the rosary of Shiva that is remembered. The rosary that human beings turn so much on the path of devotion is called “The Rosary of Rudra”. It is the same thing but Shiv Baba teaches you the right way. It should be the other name, but the name “Rosary of Rudra” has continued. Therefore, it also has to be explained that there is no difference between Shiva and Rudra. It is in the intellects of you children that you have to make good efforts and come close in Baba’s rosary. You are given an example of how children race to their goal, touch it and then come back and stand beside the teacher. You children know that you have been around the cycle of 84 births. You now have to go and be threaded in the rosary first. That race is of human students, whereas this is a spiritual race. You cannot have that race. This is a matter of souls. Souls don’t become young or old, or bigger or smaller. Souls remain the same size. You souls have to remember your Father. There is no question of difficulty in this. Although some become slack in studying this, what difficulty is there in this remembrance? None at all! All souls are brothers. In that race, young ones would run faster. That doesn’t apply here. You children race in order to be threaded in the rosary of Rudra. It is in your intellects that there is a tree of you souls. That is the rosary of all human beings who belong to Shiv Baba. It isn’t a rosary of just 108 or 16,108; no. It is the rosary of all human beings. You children understand that all will go and become present, numberwise, in their own religion and that they will go to the same place again every cycle. This too is a wonder. No one else in the world knows about these things. Among you, too, those who have broad, unlimited intellects are able to understand these things. The only concern you children should have in your intellects is how to show everyone the path. This is the rosary of Vishnu. From the beginning, there is the genealogical tree. There are also the branches and twigs. There are tiny souls up there and there are human beings here. Then, all souls will go and stand there accurately. These are wonderful matters. The physical wonders that people go to see are nothing. It is such a wonder that the Supreme Father, the Supreme Soul, the Bestower of Salvation for All, Himself, comes and teaches us. Krishna wouldn’t be called the Bestower of Salvation to All. You have to imbibe all of these points. The main aspect is: Who is the God of the Gita? Once you gain victory in this, that’s all you need. The Gita is the mother, the jewel of all scriptures, spoken by God. You have to try this first. Nowadays, people want a lot of show. Many people rush to shops where there is a lot of show because they believe that there will be very good things there. Some children are worried that they would have to give one or two hundred thousand deposit for rent to open a large centre, as that’s the only way they would find a building they like. There should be just one big royal shop. Big shops are opened in big cities. The biggest shop you have should be in the capital. You children should churn how to increase service. When you open big shops, big, important people will come. The sound from big important people spreads quickly. Try to do this first. Create a huge place for service in a big city, so that important people come and see it and will be amazed. Those who explain at such places, also have to be firstclass. When a Brahma Kumari who is not so clever explains, people think that all Brahma Kumaris are like that. Therefore, there has to be first-class salesmen at the shops. All of this is a business too, is it not? The Father says: When you children have courage, BapDada helps. That perishable wealth is not going to be useful at all. You have to earn your imperishable income, just as this Brahma did. There will be benefit for many in this. No one starves to death. You are able to eat. This one also eats. The food and drink you receive here cannot be received anywhere else. Everything here belongs to the children. You children have to establish your own kingdom. You need very broad and unlimited intellects for this. When your name is glorified in the capital, everyone will believe that what you say is the truth; that only God can make you into the masters of the world. Human beings cannot make human beings into the masters of the world. Baba continues to advise you how to make service expand. Service will expand when children become generous hearted. Do whatever you do with great generosity. To carry out an auspicious task by yourself is very good. It is said: Those who do something without being told are deities, those who do it after being told are human beings and those who don’t do anything, even after being told, are …..! Baba is the Bestower. He is not going to tell anyone to do something or to spend a certain amount for a task, no. Baba has explained that great kings are never tight-fisted. Kings are always bestowers. Baba advises you about what you should go and do. A lot of caution is also required. Maya has to be conquered; your status then becomes very high. The results will be announced at the end. Those who pass with good marks will be very happy. At the end, all of you will have visions of what you have done. However, what could be done at that time? Each of you will receive whatever is in your fortune. Making effort is a different matter. The Father tells you children to have broad intellects. You are now becoming righteous souls. Many righteous souls in the world have been and gone. They are very famous: “So-and-so was a very righteous person.” Some people acquire a great deal of money and then suddenly die. A trust is then formed. When a child is not reliable, a trustee is appointed for him. At this time, it is a world of sinful souls. People donate money to the big gurus etc. For example, the Maharaja of Kashmir willed all of his wealth to the Arya Samajis so that their religion would expand. What do you now have to do? What religion do you have to expand? You just have the one original eternal deity religion. No one knows that you are once again establishing that religion. Establishment takes place through Brahma. You children must now stay in remembrance of the One. You purify the whole world with the power of your remembrance, because a pure world is needed for you. When it is set ablaze, it will be purified. Anything that has been spoilt can be purified by fire. All impure elements are burnt in a fire so that only pure matter remains. You know that this world is very dirty and tamopradhan. It has to be made satopradhan. This is the sacrificial fire of knowledge. You are Brahmins. You know that many things have been written in the scriptures in connection with the sacrificial fire. The name of Daksh Prajapita is also mentioned. So, what happened to the sacrificial fire of the knowledge of Rudra? They sat and wrote so many stories about that! There is no proper description of the sacrificial fire. Only the Father comes and explains everything. You children have now created the sacrificial fire of knowledge on the basis of shrimat. This is a sacrificial fire of knowledge and it is also a university. Knowledge and a sacrificial fire are two separate things. A sacrificial fire has to have offerings put into it. The Father, the Ocean of Knowledge, comes and creates this sacrificial fire. This is a very important sacrificial fire into which the whole of the old world is to be sacrificed. You children have to make plans for service. You can also go and serve in the villages etc. Many people tell you to give this knowledge to the poor. They simply advise you; they themselves don’t do anything. They don’t do service themselves but simply tell you to do this and that, that it is very good, but that they themselves don’t have the time. They say: This knowledge is very good. Everyone should receive this knowledge. Those people consider themselves to be important and senior and you to be junior to them. You have to remain very cautious. Together with that study, you also have this study. By being educated, you learn how to talk to people and develop good manners. Uneducated ones are ignorant. They don’t have the sense to talk to people correctly. Important people should always be spoken to in a respectful way (saying “Aap”). There are even some here who address their husbands impolitely. To use respectful terms is royal. Eminent people should always be spoken to respectfully. Therefore, Baba advises you: Delhi, that used to be Paristhan, has to be made into Paristhan again. Therefore, everyone in Delhi has to be given the message. Very good advertising has to take place. Baba also continues to give you topics. Make a list of topics and continue to write: Come and understand how peace can be brought to the world. Come and understand how to become free from disease for 21 births. Things of such great happiness should be written. Come inside and become free from disease and double-crowned in the golden age for 21 births. Definitely use the expression “Golden aged” in everything you write. Make sure it’s in beautiful writing so that people become happy when they see it. Such boards with pictures should also be put up outside your homes. Carry on with your business etc., but also continue to do service at the same time. You don’t do business throughout the whole day, you simply have to supervise everything. It is the assistant managers who do the work. Some rich and generous businessmen would give a good salary to their assistants and appoint them to a position. This here is unlimited service. Every other service is limited. You need a very broad and unlimited intellect to do this unlimited service. We are now conquering the world. We are also conquering death and becoming immortal. Many will come inside and try to understand when they see such writing as: Come inside and understand how you can become the masters of the land of immortality. You can find many topics. You can make anyone into a master of the world. There is no name or trace of sorrow there. You children should have so much happiness! What has Baba come to make us into once again! You children understand that the old world has to become new. Death is standing just ahead. You can see how wars continue to take place. When the great world war takes place, the whole play will come to an end. You know this very well. The Father says with a lot of love: Sweet children, the sovereignty of the world is for you. You were the masters of the world. You experienced a lot of happiness in Bharat. Ravan’s kingdom doesn’t exist there. Therefore, you should have such great happiness. You children should meet together and discuss these things. Publicise it in the newspapers. Drop leaflets from an aeroplane over Delhi. Send out invitations. This won’t incur a lot of expense. If a senior officer were to come and understand this knowledge, he might even do that free of charge. Baba advises you that in a city like Calcutta there should be a big, first-class royal shop in the Square; many customers would then come. There should be big shops in cities like Madras and Bombay. Baba is also the Businessman. Look at all the useless things not worth a penny that He takes from you and look what He gives you in exchange! This is why He is remembered as the Merciful One. He is the One who changes shells into diamonds, ordinary humans into deities. The greatness is of the one Father. What praise would you have if it weren’t for the Father? You children should have the intoxication that God is teaching you. Your aim and objective of becoming Narayan from an ordinary human is in front of you. Those who were the first to start unadulterated devotion are the ones who will come and make effort to claim a high status. Baba explains such good points. You children forget them, which is why Baba tells you to write them down. Continue to write down the topicsDoctors study books. You too are master spiritual surgeons. You are taught how to give injections to souls. This injection is of knowledge. No needle etc. is used for this. Baba is the eternal Surgeon; He comes and teaches souls. It is souls that have become impure. This is very easy. The Father is making us into the masters of the world. So, should we not remember Him? There is a lot of opposition from Maya. This is why Baba says: Keep your chart and think about service and you will have a lot of happiness. If there is no yoga, then, no matter how well someone may give knowledge, it would be very difficult for him to remain honest with the Father. If you feel that you are very clever and progressing well, you should send your chart of remembrance to Baba, so that Baba can understand to what extent you are telling the truth or not. Achcha. You children have been told that you have to become salesmen of the imperishable jewels of knowledge. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Keep your aim and objective in front of you and remain intoxicated. Become master spiritual surgeons and give everyone an injection of knowledge. Together with doing service, also keep a chart of remembrance and you will remain happy.
  2. Have good manners when in conversation with others. Address others respectfully. Be generous hearted in every task.
Blessing: May you become a constant embodiment of success in the service of world benefit with the practical example of your benefitting yourself.
Nowadays, almost all illnesses are of heart failure. In the same way, in terms of spiritual progress, there is more illness of being disheartened. By seeing a practical transformation in disheartened souls, people develop courage and power; they have heard a lot and now wish to see something. They want to bring about transformation by seeing an example. So, for world benefit, first of all show them the sample of your benefitting yourself. The way to become an embodiment of success in the service of world benefit is a practical example, and the Father’s revelation will only take place through this. They will only accept everything when they see the things you speak about in a practical way in your form.
Slogan: To harmonise your ideas with those of others is to give regard.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 1 JULY 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 July 2020

Murli Pdf for Print : – 

01-07-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – बड़े-बड़े स्थानों पर बड़े-बड़े दुकान (सेन्टर) खोलो, सर्विस को बढ़ाने के लिए प्लैन बनाओ, मीटिंग करो, विचार चलाओ”
प्रश्नः- स्थूल वन्डर्स तो सब जानते हैं लेकिन सबसे बड़ा वन्डर कौन-सा है, जिसे तुम बच्चे ही जानते हो?
उत्तर:- सबसे बड़ा वन्डर तो यह है जो सर्व का सद्गति दाता बाप स्वयं आकर पढ़ाते हैं। यह वन्डरफुल बात बताने के लिए तुम्हें अपने-अपने दुकानों का भभका करना पड़ता है क्योंकि मनुष्य भभका (शो) देखकर ही आते हैं। तो सबसे अच्छा और बड़ा दुकान कैपीटल में होना चाहिए, ताकि सब आकर समझें।
गीत:- मरना तेरी गली में……… Audio Player

ओम् शान्ति। शिव भगवानुवाच। रूद्र भगवानुवाच भी कहा जा सकता है क्योंकि शिव माला नहीं गाई जाती है। जो मनुष्य भक्ति मार्ग में बहुत फेरते हैं उसका नाम रखा हुआ है रूद्र माला। बात एक ही है परन्तु राइट-वे में शिवबाबा पढ़ाते हैं। वह नाम ही होना चाहिए, परन्तु रूद्र माला नाम चला आता है। तो वह भी समझाना होता है। शिव और रूद्र में कोई फ़र्क नहीं है। बच्चों की बुद्धि में है कि हम अच्छी रीति पुरूषार्थ कर बाबा के माला में नजदीक आ जाएं। यह दृष्टान्त भी बताया जाता है। जैसे बच्चे दौड़ी लगाकर जाते हैं, निशान तक जाए फिर लौट आकर टीचर पास खड़े होते हैं। तुम बच्चे भी जानते हो हमने 84 का चक्र लगाया। अभी पहले-पहले जाकर माला में पिरोना है। वह है ह्युमन स्टूडेन्ट की रेस। यह है रूहानी रेस। वह रेस तुम कर न सको। यह तो है ही आत्माओं की बात। आत्मा तो बूढ़ी, जवान वा छोटी-बड़ी होती नहीं। आत्मा तो एक ही है। आत्मा को ही अपने बाप को याद करना है, इसमें कोई तकलीफ की बात नहीं। भल पढ़ाई में ढीले भी हो जाएं परन्तु इसमें क्या तकलीफ है, कुछ भी नहीं। सभी आत्मायें भाई-भाई हैं। उस रेस में जवान तेज दौड़ेंगे। यहाँ तो वह बात नहीं। तुम बच्चों की रेस है रूद्र माला में पिरोने की। बुद्धि में है हम आत्माओं का भी झाड़ है। वह है शिवबाबा की सब मनुष्य-मात्र की माला। ऐसे नहीं कि सिर्फ 108 या 16108 की माला है। नहीं। जो भी मनुष्य मात्र हैं, सबकी माला है। बच्चे समझते हैं नम्बरवार हर एक अपने-अपने धर्म में जाकर विराजमान होंगे, जो फिर कल्प-कल्प उसी जगह पर ही आते रहेंगे। यह भी वन्डर है ना। दुनिया इन बातों को नहीं जानती। तुम्हारे में भी जो विशालबुद्धि वाले हैं वह इन बातों को समझ सकते हैं। बच्चों की बुद्धि में यही ख्याल रहना चाहिए कि हम सबको रास्ता कैसे बतायें। यह है विष्णु की माला। शुरू से लेकर सिजरा शुरू होता है, टाल-टालियां सब हैं ना। वहाँ भी छोटी-छोटी आत्मायें रहती हैं। यहाँ हैं मनुष्य। फिर सब आत्मायें एक्यूरेट वहाँ खड़ी होंगी। यह वन्डरफुल बातें हैं। मनुष्य यह स्थूल वन्डर्स सब देखते हैं परन्तु वह तो कुछ भी नहीं है। यह कितना वन्डर है जो सर्व का सद्गति दाता परमपिता परमात्मा आकर पढ़ाते हैं। कृष्ण को सर्व का सद्गति दाता थोड़ेही कहेंगे। तुमको यह सब प्वाइंट्स भी धारण करनी है। मूल बात है ही गीता के भगवान की। इस पर जीत पाई तो बस। गीता है ही सर्व शास्त्रमई शिरोमणी, भगवान की गाई हुई। पहले-पहले यह कोशिश करनी है। आजकल तो बड़ा भभका चाहिए, जिस दुकान में बहुत शो होता है वहाँ मनुष्य बहुत घुसते हैं। समझेंगे यहाँ अच्छा माल होगा। बच्चे डरते हैं, इतने बड़े-बड़े सेन्टर खोलें तो लाख दो लाख सलामी देवें, तब दिलपसन्द मकान मिले। एक ही रॉयल बड़ा दुकान हो, बड़े दुकान बड़े-बड़े शहरों में ही निकलते हैं। तुम्हारा सबसे बड़ा दुकान निकलना चाहिए केपीटल में। बच्चों को विचार सागर मंथन करना चाहिए कि कैसे सर्विस बढ़े। बड़ा दुकान निकालेंगे तो बड़े-बड़े आदमी आयेंगे। बड़े आदमी का आवाज़ झट फैलता है। पहले-पहले तो यह कोशिश करनी चाहिए। सर्विस के लिए बड़े से बड़ा स्थान ऐसी जगह बनायें जो बड़े-बड़े मनुष्य आकर देखकर वन्डर खायें और फिर वहाँ समझाने वाले भी फर्स्टक्लास चाहिए। कोई एक भी हल्की बी.के. समझाती है तो समझते हैं – शायद सब बी.के. ही ऐसी हैं इसलिए दुकान पर सेल्समैन भी अच्छे फर्स्टक्लास चाहिए। यह भी धन्धा है ना। बाप कहते हैं हिम्मते बच्चे मददे बापदादा। वह विनाशी धन तो कोई काम नहीं आयेगा। हमको तो अपनी अविनाशी कमाई करनी है, इसमें बहुतों का कल्याण होगा। जैसे इस ब्रह्मा ने भी किया। फिर कोई भूख थोड़ेही मरते हैं। तुम भी खाते हो, यह भी खाते हैं। यहाँ जो खान-पान मिलता है वह और कहीं नहीं मिलता। यह सब कुछ बच्चों का ही है ना। बच्चों को अपनी राजाई स्थापन करनी है, इसमें बड़ी विशालबुद्धि चाहिए। कैपीटल में नाम निकला तो सब समझ जायेंगे। कहेंगे बरोबर यह तो सच बतलाती हैं, विश्व का मालिक तो भगवान ही बनायेगा। मनुष्य, मनुष्य को विश्व का मालिक थोड़ेही बनायेगा। बाबा सर्विस की वृद्धि के लिए राय देते रहते हैं।

सर्विस की वृद्धि तभी होगी जब बच्चों की फ्राकदिल होगी। जो भी कार्य करते हो फ्राकदिली से करो। कोई भी शुभ कार्य आपेही करना – यह बहुत अच्छा है। कहा भी जाता है आपेही करे सो देवता, कहने से करे वह मनुष्य। कहने से भी न करे…… बाबा तो दाता है, बाबा थोड़ेही किसको कहेंगे यह करो। इस कार्य में इतना लगाओ। नहीं। बाबा ने समझाया है बड़े-बड़े राजाओं का हाथ कभी बन्द नहीं रहता। राजायें हमेशा दाता होते हैं। बाबा राय देते हैं – क्या-क्या जाकर करना चाहिए। खबरदारी भी बहुत चाहिए। माया पर जीत पानी है, बहुत ऊंच पद है। पिछाड़ी में रिजल्ट निकलती है फिर जो बहुत मार्क्स से पास होते हैं उनको खुशी भी होती है। पिछाड़ी में साक्षात्कार तो सबको होंगे ना, परन्तु उस समय कर क्या सकेंगे। तकदीर में जो है वही मिलता है। पुरूषार्थ की बात अलग है। बाप बच्चों को समझाते हैं विशाल बुद्धि बनो। अभी तुम धर्म आत्मायें बनते हो। दुनिया में धर्मात्मा तो बहुत होकर गये हैं ना। बहुत उन्हों का नामाचार होता है। फलाना बहुत धर्मात्मा मनुष्य था। कोई-कोई तो पैसे इकट्ठे करते-करते अचानक मर जाते हैं। फिर ट्रस्टी बनते हैं। कोई बच्चा भी नालायक होता है तो फिर ट्रस्ट्री करते हैं। इस समय तो यह है ही पाप आत्माओं की दुनिया। बड़े-बड़े गुरुओं आदि को दान करते हैं। जैसे कश्मीर का महाराजा था, विल करके गया कि आर्य समाजियों को मिले। उनका धर्म वृद्धि को पाये। अभी तुमको क्या करना है, किस धर्म को वृद्धि में लाना है? आदि सनातन देवी-देवता धर्म ही है। यह भी किसको पता नहीं है। अभी तुम फिर से स्थापन कर रहे हो। ब्रह्मा द्वारा स्थापना। अब बच्चों को एक की याद में रहना चाहिए। तुम याद के बल से ही सारे सृष्टि को पवित्र बनाते हो क्योंकि तुम्हारे लिए तो पवित्र सृष्टि चाहिए। इनको आग लगने से पवित्र बनती है। खराब चीज़ को आग में पवित्र बनाते हैं। इनमें सब अपवित्र वस्तु पड़कर फिर अच्छी होकर निकलेगी। तुम जानते हो यह बहुत छी-छी तमोप्रधान दुनिया है। फिर सतोप्रधान होनी है। यह ज्ञान यज्ञ है ना। तुम हो ब्राह्मण। यह भी तुम जानते हो शास्त्रों में अनेक बातें लिख दी हैं, यज्ञ पर फिर दक्ष प्रजापिता का नाम दिखाया है। फिर रूद्र ज्ञान यज्ञ कहाँ गया। इसके लिए भी क्या-क्या कहानियां बैठ लिखी हैं। यज्ञ का वर्णन कायदेसिर है नहीं। बाप ही आकर सब कुछ समझाते हैं। अभी तुम बच्चों ने ज्ञान यज्ञ रचा है श्रीमत से। यह है ज्ञान यज्ञ और फिर विद्यालय भी हो जाता है। ज्ञान और यज्ञ दोनों अक्षर अलग-अलग हैं। यज्ञ में आहुति डालनी है। ज्ञान सागर बाप ही आकर यज्ञ रचते हैं। यह बड़ा भारी यज्ञ है, जिसमें सारी पुरानी दुनिया स्वाहा होनी है।

तो बच्चों को सर्विस का प्लैन बनाना है। भल गाँवड़ों आदि में भी सर्विस करो। तुमको बहुत कहते हैं गरीबों को यह नॉलेज देनी चाहिए। सिर्फ राय देते हैं, खुद कोई काम नहीं करते। सर्विस नहीं करते सिर्फ राय देते हैं कि ऐसा करो, बहुत अच्छा है। परन्तु हमको फुर्सत नहीं है। नॉलेज बहुत अच्छी है। सबको यह नॉलेज मिलनी चाहिए। अपने को बड़ा आदमी, तुमको छोटा आदमी समझते हैं। तुमको बहुत खबरदार रहना है। उस पढ़ाई के साथ फिर यह पढ़ाई भी मिलती है। पढ़ाई से बातचीत करने का अक्ल आ जाता है। मैनर्स अच्छे हो जाते हैं। अनपढ़े तो जैसे भुट्टू होते हैं। कैसे बात करनी चाहिए, अक्ल नहीं। बड़े आदमी को हमेशा “आप” कह बात करनी होती है। यहाँ तो कोई-कोई ऐसे भी हैं जो पति को भी तुम-तुम कह देंगी। आप अक्षर रॉयल है। बड़े आदमी को आप कहेंगे। तो बाबा पहले-पहले राय देते हैं कि देहली जो परिस्तान थी, फिर से इसे परिस्तान बनाना है। तो देहली में सबको सन्देश देना चाहिए, एडवरटाइजमेंट बहुत अच्छी करनी है। टॉपिक्स भी बताते रहते हैं, टापिक की लिस्ट बनाओ फिर लिखते जाओ। विश्व में शान्ति कैसे हो सकती है आकर समझो, 21 जन्मों के लिए निरोगी कैसे बन सकते हो, आकर समझो। ऐसी खुशी की बातें लिखी हुई हो। 21 जन्मों के लिए निरोगी, सतयुगी डबल सिरताज आकर बनो। सतयुगी अक्षर तो सबमें डालो। सुन्दर-सुन्दर अक्षर हो तो मनुष्य देखकर खुश हो। घर में भी ऐसे बोर्ड चित्र आदि लगे हुए हों। अपना धंधा आदि भल करो। साथ-साथ सर्विस भी करते रहो। धन्धे में सारा दिन थोड़ेही रहना होता है। ऊपर से सिर्फ देखभाल करनी होती है। बाकी काम असिस्टेंट मैनेजर चलाते हैं। कोई सेठ लोग फ्राकदिल होते हैं तो असिस्टेंट को अच्छा पगार (मजदूरी) देकर भी गद्दी पर बिठा देते हैं। यह तो बेहद की सर्विस है। और सब हैं हद की सर्विस। इस बेहद की सर्विस में कितनी विशालबुद्धि होनी चाहिए। हम विश्व पर जीत पाते हैं। काल पर भी हम जीत पाकर अमर बन जाते हैं। ऐसी-ऐसी लिखत देखकर आयेंगे और समझने की कोशिश करेंगे। अमरलोक का मालिक तुम कैसे बन सकते हो आकर समझो, बहुत टॉपिक्स निकल सकती हैं। तुम किसको विश्व का मालिक बना सकते हो। वहाँ दु:ख का नाम-निशान नहीं रहता। बच्चों को कितनी खुशी होनी चाहिए। बाबा हमको फिर से क्या बनाने आये हैं! बच्चे जानते हैं पुरानी सृष्टि से नई बननी है, मौत भी सामने खड़ा है। देखते हो लड़ाई लगती रहती है। बड़ी लड़ाई लगी तो खेल ही खलास हो जायेगा। तुम तो अच्छी रीति जानते हो। बाप बहुत प्यार से कहते हैं – मीठे बच्चों, विश्व की बादशाही तुम्हारे लिए है। तुम विश्व के मालिक थे, भारत में तुमने अथाह सुख देखे। वहाँ रावण राज्य ही नहीं। तो इतनी खुशी चाहिए। बच्चों को आपस में मिलकर राय निकालनी चाहिए। अखबारों में डालना चाहिए। देहली में भी एरोप्लेन से पर्चे गिराओ। निमंत्रण देते हैं, खर्चा कोई बहुत थोड़ेही लगता है, बड़ा ऑफीसर समझ जाए तो फ्री भी कर सकते हैं। बाबा राय देते हैं, जैसे कलकत्ता है वहाँ चौरंगी में फर्स्टक्लास एक ही बड़ा दुकान हो रॉयल, तो ग्राहक बहुत आयेंगे। मद्रास, बाम्बे बड़े-बड़े शहरों में बड़ा दुकान हो। बाबा बिजनेसमैन भी तो है ना। तुमसे कखपन पाई पैसे लेकर एक्सचेंज में क्या देता हूँ! इसलिए गाया जाता है रहमदिल। कौड़ी से हीरे जैसा बनाने वाला, मनुष्य को देवता बनाने वाला। बलिहारी एक बाप की है। बाप न होता, तो तुम्हारी क्या महिमा होती।

तुम बच्चों को फ़खुर होना चाहिए कि भगवान हमको पढ़ाते हैं। एम ऑब्जेक्ट नर से नारायण बनने की सामने खड़ी है। पहले-पहले जिन्होंने अव्यभिचारी भक्ति शुरू की है, वही आकर ऊंच पद पाने का पुरूषार्थ करेंगे। बाबा कितनी अच्छी-अच्छी प्वाइंट्स समझाते हैं, बच्चों को भूल जाती हैं, तब बाबा कहते हैं प्वाइंट्स लिखो। टॉपिक्स लिखते रहो। डॉक्टर लोग भी किताब पढ़ते हैं। तुम हो मास्टर रूहानी सर्जन। तुमको सिखलाते हैं आत्मा को इन्जेक्शन कैसे लगाना है। यह है ज्ञान का इन्जेक्शन। इसमें सुई आदि तो कुछ नहीं है। बाबा है अविनाशी सर्जन, आत्माओं को आकर पढ़ाते हैं। वही अपवित्र बनी है। यह तो बहुत इज़ी है। बाप हमको विश्व का मालिक बनाते हैं, उनको हम याद नहीं कर सकते हैं! माया का आपोजीशन बहुत है इसलिए बाबा कहते हैं – चार्ट रखो और सर्विस का ख्याल करो तो बहुत खुशी होगी। कितनी भी अच्छी मुरली चलाते हैं परन्तु योग है नहीं। बाप से सच्चा बनना भी बड़ा मुश्किल है। अगर समझते हैं हम बहुत तीखे हैं तो बाबा को याद कर चार्ट भेजें तो बाबा समझेंगे कहाँ तक सच है या झूठ? अच्छा, बच्चों को समझाया – सेल्समैन बनना है, अविनाशी ज्ञान रत्नों का। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) एम ऑब्जेक्ट को सामने रख फ़खुर में रहना है, मास्टर रूहानी सर्जन बन सबको ज्ञान इन्जेक्शन लगाना है। सर्विस के साथ-साथ याद का भी चार्ट रखना है तो खुशी रहेगी।

2) बातचीत करने के मैनर्स अच्छे रखने हैं, ‘आप’ कह बात करनी है। हर कार्य फ्राकदिल बनकर करना है।

वरदान:- स्व कल्याण के प्रत्यक्ष प्रमाण द्वारा विश्व कल्याण की सेवा में सदा सफलतामूर्त भव
जैसे आजकल शारीरिक रोग हार्टफेल का ज्यादा है वैसे आध्यात्मिक उन्नति में दिलशिकस्त का रोग ज्यादा है। ऐसी दिलशिकस्त आत्माओं में प्रैक्टिकल परिवर्तन देखने से ही हिम्मत वा शक्ति आ सकती है। सुना बहुत है अब देखना चाहते हैं। प्रमाण द्वारा परिवर्तन चाहते हैं। तो विश्व कल्याण के लिए स्व कल्याण पहले सैम्पल रूप में दिखाओ। विश्व कल्याण की सेवा में सफलतामूर्त बनने का साधन ही है प्रत्यक्ष पमाण, इससे ही बाप की प्रत्यक्षता होगी। जो बोलते हो वह आपके स्वरूप से प्रैक्टिकल दिखाई दे तब मानेंगे।
स्लोगन:- दूसरे के विचारों को अपने विचारों से मिलाना – यही है रिगार्ड देना।

TODAY MURLI 1 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 1 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 June 2019:- Click Here

01/07/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, body consciousness means a devilish character. Change that and imbibe a divine character and you will be liberated from the jail of Ravan.
Question: How does each soul experience punishment for his sinful acts and what method should you use to be liberated from that?
Answer: Each one experiences punishment in the jail of a womb for his sins and, secondly, he also receives many types of sorrow in the jail of Ravan. Baba has come to liberate you children from these jails. In order to be liberated from them you have to become civilized.

Om shanti. The Father sits here and explains according to the dramaplan. The Father alone comes and liberates you from the jail of Ravan because all are criminal, sinful souls. Because all human souls of the whole world are criminal, they are in the jail of Ravan and when they shed their bodies, each one goes into the jail of a womb. The Father comes and liberates you from both jails. Then, for half the cycle, you will not go into either the jail of Ravan or the jail of a womb. You know that the Father is gradually liberatingyou from the jail of Ravan and the jail of a womb according to the effort you make. The Father tells you that, in the kingdom of Ravan, all of you are criminal. Then, in the kingdom of Rama, all are civilized. There is no influence of any evil spirits. It is when there is arrogance of the body that the other evil spirits also come. You children now have to make effort to become soul conscious. Only when you become like them (Lakshmi and Narayan), will you be called deities. You are now called Brahmins. In order to liberate you from the jail of Ravan, the Father comes and teaches you and also reforms everyone’s character which has become spoilt. For half the cycle your character has been spoilt and it is now completely spoilt. At this time, everyone’s character is tamopradhan. There is truly the difference of day and night between a divine character and a devilish character. The Father explains: You now have to make effort and make your character divine for only then will you be liberated from having a devilish character. Body consciousness is number one in the devilish character. The character of those who are soul conscious never becomes spoilt. Everything depends on your character. How does the character of the deities become spoilt? Their character becomes spoilt when they go onto the path of sin, that is, when they become vicious. They have shown such dirty images of the path of sin in the Jagannath Temple. That is a very old temple and the dress etc. which they are shown wearing is that of the deities. They show how the deities go onto the path of sin. That is the first criminality. They climb on to the pyre of lust and then, whilst gradually changing, they become completely ugly. At first, when they are in the golden age, they are absolutely beautiful. Then there are two degrees less. The silver age cannot be called heaven; it is semi-heaven. The Father has explained that it is only when Ravan comes that rust begins to accumulate on you. You become completely criminal by the end. You would be said to be 100% criminal at this time. You were 100% viceless and have become 100% vicious. The Father now says: Continue to reform yourselves. This jail of Ravan is very big. Everyone would be said to be criminal because this is the kingdom of Ravan. They don’t know anything about the kingdom of Rama or the kingdom of Ravan. You are now making effort to go to the kingdom of Rama. No one has become complete as yet: some are in the first, some in the second and others in the third. The Father is now teaching you and inspiring you to imbibe divine virtues. Everyone has body consciousness. The more you remain engaged in service, the more your body consciousness will be reduced. It is only by your doing service that body consciousness will be reduced. Those who are soul conscious will do a lot of service. Baba is soul conscious and does such good service. He liberates everyone from the criminal jail of Ravan and enables everyone to attain salvation. Neither jail will exist there. Here, there is the double jail. In the golden age, there are no courts, no sinful souls and no jail of Ravan. The jail of Ravan is unlimited. All are tied up with the ropes of the five vices; there is limitless sorrow. Day by day, sorrow continues to increase. Satyug is called the golden age and Tretayug is called the silver age. The happiness of the golden age cannot exist in the silver age because souls will have decreased by two degrees. When the degrees of souls decrease, the bodies also become like that. You should understand that you became body conscious in the kingdom of Ravan. The Father has now come to liberate you from the jail of Ravan. It does take time for the body consciousness of half the cycle to be removed. You have to make a lot of effort. Those who have already shed their bodies can come here again and take knowledge after growing older. The later you shed your body, the less possible it is for you to make effort: when someone dies, he can only make effort again when his physical organs become big. He can only do something when he becomes sensible. Those who go later will not be able to study anything. They will only study as much as they have studied already. This is why you should make effort before you die. They will definitely try as much as possible to come here. Many will come in this condition. The tree will continue to grow. The explanation is very easy. There is a very good chance to give the Father’s introduction in Bombay: That One is the Father of all of us. You definitely need the Father’s inheritance of heaven. It is so easy! Your hearts should bubble inside with happiness as to who it is teaching you. This is our aim and objective. Previously, we were in salvation and we then became degraded and we now have to go into salvation from degradation. Shiv Baba says: Constantly remember Me alone and your sins of many births will be cut away. You children know that when it is the kingdom of Ravan in the copper age, the five vices of Ravan become omnipresent. How can the Father be omnipresent where the vices are omnipresent? All souls are sinful souls. The Father is personally in front of you and this is why He says: I never said that, but they have understood it wrongly. By their understanding it wrongly, by falling into vice and by being insulting, this has become the condition of Bharat. Christians too know that, 5000 years ago, Bharat was heaven and all were satopradhan. The people of Bharat speak of hundreds of thousands of years because their intellects have become tamopradhan. They (Christians) neither become as elevated nor as degraded. They understand that heaven truly did exist. The Father says: They are right when they say that I came to liberate you children from the jail of Ravan 5000 years ago. I have come to liberate you again. For half the cycle there is the kingdom of Rama and for half the cycle there is the kingdom of Ravan. Whenever you children have a chance, you should explain. Baba also explains to you children: Children, explain in this way. Why do you experience limitless sorrow? At first, when it was the kingdom of Lakshmi and Narayan, there was limitless happiness. They were full of all virtues. This knowledge is for becoming Narayan from an ordinary man. This is a study through which you make your character divine. At this time, everyone’s character in the kingdom of Ravan has become spoilt. It is only the one Rama who can reform everyone’s character. There are so many religions at this time. The number of human beings continues to grow so much. If it continues to grow in the same way, how will there be enough food for everyone to eat? Such things do not exist in the golden age. There is no question of sorrow there. This iron age is the land of sorrow where all are vicious. That is the land of happiness. All are completely viceless. You should repeatedly tell them this so that they can understand something. The Father says: I am the Purifier. By remembering Me, your sins of many births will be cut away. How would the Father say this? He would definitely speak by adopting a body. Only the one Father is the Purifier and the Bestower of Salvation for all. He would definitely have entered someone’s chariot. The Father says: I enter the chariot of the one who doesn’t know his own births. The Father explains: This is a play of 84 births. Those who came in the beginning will come again. They are the ones who will take many births and then there will be those with fewer births. The deities came first of all. Baba teaches you children to give lectures: You should explain in this way. If you stay in remembrance very well, if there isn’t body consciousness, you will then give good lectures. Shiv Baba is soul conscious. He continues to say: Children, may you be soul conscious! Let there be no vices! Let there not be any devilishness within! You must not cause anyone sorrow! You must not defame anyone! You children must never trust rumours you hear here and there. Ask the Father: That one is saying this; is it true? Baba will tell you. Otherwise, there are many who don’t take long to tell lies: So-and-so said this about you. They will say this and finish that one off. Baba knows that these things happen a lot. They tell wrong stories and then spoil the hearts of others. Therefore, you must never listen to false stories and burn inside. Ask: Did So-and-so say this about me? There should be cleanliness within. Some children develop enmity based on the rumours they have heard. You have found the Father and so you should ask Him. Many don’t have any faith in Brahma Baba either. They even forget Shiv Baba. The Father has come to make everyone elevated. He uplifts everyone with a lot of love. You should take God’s directions. If you don’t have faith, you won’t ask and you won’t receive a response. You should imbibe what the Father explains to you. You children have become instruments to establish peace in the world. No one’s directions except for those of the one Father can be elevated. The most elevated directions are only from God from whom you also receive such a high status. The Father says: Benefit yourself and claim a high status. Become maharathis. If you don’t study, what status would you receive? This is a matter of every cycle. The maids and servants in the golden age are also numberwise. The Father has come to make you elevated, but if you don’t study, what status would you claim? There is a high status and a low status amongst the subjects too. This has to be understood with the intellect. People don’t know where they are going, whether they are becoming elevated or degraded. The Father comes and explains to you children: Previously, you were in the golden and silver ages and you are now in the iron age. At this time, human beings eat human beings. Only when people understand all of these things can they then understand what knowledge is. Some children listen with one ear and let it out through the other. Good children at good centres have criminal eyes. They don’t care about benefit, loss, honour. The main thing is the criminal eye. The Father explains: Lust is the greatest enemy. You have to beat your head so much in order to conquer it. The main thing is purity. There is so much fighting because of that. The Father says: Lust is the greatest enemy. Only when you conquer it will you become conquerors of the world. The deities are completely viceless. As you progress further, you will understand everything. Establishment will have taken place. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Never allow your stage to be spoilt by believing the rumours you hear. Have cleanliness within. Don’t burn inside on hearing lies. Take God’s directions.
  2. Make full effort to become soul conscious. Do not defame anyone. Completely finish the criminal eye by paying attention to benefit, loss and honour. Listen with one ear to whatever the Father tells you, but don’t let it out of the other!
Blessing: May you gain victory over every adverse situation on the basis of faith and intoxication and become an embodiment of success.
With yoga, now attain such success that even a lack of attainment gives you the experience of attainment. Faith and intoxication make you victorious over every adverse situation. As you progress further, such papers will come that you will have to eat dry chapattis. However, with your faith, intoxication and power of success in yoga, those dry chapattis will become soft; you won’t be distressed. You just keep your honour of being an embodiment of success and no one will be able to distress you. Check this: If you have any facilities, use them comfortably, but make sure they do not deceive you at any time.
Slogan: Be an instrument and play your part accurately and you will continue to receive the help of everyone’s co-operation.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 1 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 July 2019

To Read Murli 30 June 2019 :- Click Here
01-07-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – देह-अभिमान आसुरी कैरेक्टर है, उसे बदल दैवी कैरेक्टर्स धारण करो तो रावण की जेल से छूट जायेंगेˮ
प्रश्नः- हर एक आत्मा अपने पाप कर्मों की सज़ा कैसे भोगती है, उससे बचने का साधन क्या है?
उत्तर:- हर एक अपने पापों की सज़ा एक तो गर्भ जेल में भोगते हैं, दूसरा रावण की जेल में अनेक प्रकार के दु:ख उठाते हैं। बाबा आया है तुम बच्चों को इन जेलों से छुड़ाने। इनसे बचने के लिए सिविलाइज्ड बनो।

ओम् शान्ति। ड्रामा के प्लैन अनुसार बाप बैठ समझाते हैं। बाप ही आकर रावण की जेल से छुड़ाते हैं क्योंकि सब क्रिमिनल, पाप आत्मायें हैं। सारी दुनिया के मनुष्य मात्र क्रिमिनल होने के कारण रावण की जेल में हैं। फिर जब शरीर छोड़ते हैं तो भी गर्भ जेल में जाते हैं। बाप आकर दोनों जेल से छुड़ाते हैं फिर तुम आधाकल्प रावण की जेल में भी नहीं और गर्भ जेल में भी नहीं जायेंगे। तुम जानते हो बाप धीरे-धीरे पुरुषार्थ अनुसार हमें रावण की जेल से और गर्भ जेल से छुड़ाते रहते हैं। बाप बताते हैं तुम सब क्रिमिनल हो रावण राज्य में। फिर राम राज्य में सब सिविलाइज्ड होते हैं। कोई भी भूत की प्रवेशता नहीं होती है। देह का अहंकार आने से ही फिर और भूतों की प्रवेशता होती है। अब तुम बच्चों को पुरुषार्थ कर देही-अभिमानी बनना है। जब ऐसे (लक्ष्मी-नारायण) बन जायेंगे तब ही देवता कहलायेंगे। अभी तो तुम ब्राह्मण कहलाते हो। रावण की जेल से छुड़ाने लिए बाप आकर पढ़ाते भी हैं और जो सबके कैरेक्टर्स बिगड़े हुए हैं वह सुधारते भी हैं। आधाकल्प से कैरेक्टर्स बिगड़ते-बिगड़ते बहुत बिगड़ गये हैं। इस समय हैं तमोप्रधान कैरेक्टर्स। दैवी और आसुरी कैरेक्टर्स में बरोबर रात-दिन का फर्क है। बाप समझाते हैं अब पुरुषार्थ कर अपना दैवी कैरेक्टर्स बनाना है, तब ही आसुरी कैरेक्टर्स से छूटते जायेंगे। आसुरी कैरेक्टर्स में देह-अभिमान है नम्बरवन। देही-अभिमानी के कैरेक्टर्स कभी बिगड़ते नहीं हैं। सारा मदार कैरेक्टर्स पर है। देवताओं का कैरेक्टर कैसे बिगड़ता है। जब वे वाम मार्ग में जाते हैं अर्थात् विकारी बनते हैं तब कैरेक्टर्स बिगड़ते हैं। जगन्नाथ के मन्दिर में ऐसे चित्र दिखाये हैं वाम मार्ग के। यह तो बहुत वर्षों का पुराना मन्दिर है, ड्रेस आदि देवताओं की ही है। दिखाते हैं देवता वाम मार्ग में कैसे जाते हैं। पहली-पहली क्रिमिनलिटी है ही यह। काम चिता पर चढ़ते हैं, फिर रंग बदलते-बदलते बिल्कुल काले हो जाते हैं। पहले-पहले गोल्डन एज़ में हैं सम्पूर्ण गोरे, फिर दो कला कम हो जाती हैं। त्रेता को स्वर्ग नहीं कहेंगे, वह है सेमी स्वर्ग। बाप ने समझाया है रावण के आने से ही तुम्हारे ऊपर कट चढ़ना शुरू हुई है। पूरे क्रिमिनल अन्त में बनते हो। अभी 100 परसेन्ट क्रिमिनल कहेंगे। 100 परसेन्ट वाइसलेस थे फिर 100 परसेन्ट विशश बने। अब बाप कहते हैं सुधरते जाओ, यह रावण का जेल बहुत बड़ा है। सबको क्रिमिनल ही कहेंगे क्योंकि रावण के राज्य में हैं ना। राम राज्य और रावण राज्य का तो उनको पता ही नहीं है। अभी तुम पुरुषार्थ कर रहे हो रामराज्य में जाने का। सम्पूर्ण तो कोई बना नहीं है। कोई फर्स्ट, कोई सेकण्ड, कोई थर्ड में हैं। अब बाप पढ़ाते हैं, दैवीगुण धारण कराते हैं। देह-अभिमान तो सबमें है। जितना-जितना तुम सर्विस में लगे रहेंगे उतना देह-अभिमान कम होता जायेगा। सर्विस करने से ही देह-अभिमान कम होगा। देही-अभिमानी बड़ी-बड़ी सर्विस करेंगे। बाबा देही-अभिमानी है तो कितनी अच्छी सर्विस करते हैं। सभी को क्रिमिनल रावण की जेल से छुड़ाए सद्गति प्राप्त करा देते हैं, वहाँ फिर दोनों जेल नहीं होगी। यहाँ डबल जेल हैं, सतयुग में न कोर्ट है, न पाप आत्मायें हैं, न तो रावण की जेल ही है। रावण की है बेहद की जेल। सभी 5 विकारों की रस्सियों में बंधे हुए हैं। अपरमअपार दु:ख हैं। दिन-प्रतिदिन दु:ख वृद्धि को पाता रहता है।

सतयुग को कहा जाता है गोल्डन एज, त्रेता को सिलवर एज। सतयुग वाला सुख त्रेता में नहीं हो सकता क्योंकि आत्मा की दो कला कम हो जाती हैं। आत्मा की कला कम होने से शरीर भी ऐसे हो जाते हैं, तो यह समझना चाहिए कि बरोबर हम रावण के राज्य में देह-अभिमानी बन पड़े हैं। अब बाप आया है रावण की जेल से छुड़ाने के लिए। आधाकल्प का देह-अभिमान निकलने में देरी तो लगती है। बहुत मेहनत करनी पड़ती है। जल्दी में जो शरीर छोड़ गये वह फिर भी बड़े होकर आए कुछ ज्ञान उठा सकते हैं। जितना देरी होती जाती है तो फिर पुरुषार्थ तो कर न सकें। कोई मरे फिर आकर पुरुषार्थ करे सो तो जब आरगन्स बड़े हों, समझदार हों तब कुछ कर भी सकें। देरी से जाने वाले तो कुछ सीख नहीं सकेंगे। जितना सीखे उतना सीखे इसलिए मरने से पहले पुरुषार्थ करना चाहिए, जितना हो सके इस तरफ आने की कोशिश जरूर करेंगे। इस हालत में बहुत आयेंगे। झाड़ वृद्धि को पायेगा। समझानी तो बहुत सहज है। बाम्बे में बाप का परिचय देने के लिए चांस बहुत अच्छा है – यह हम सबका बाप है, बाप से वर्सा तो जरूर स्वर्ग का ही चाहिए। कितना सहज है। दिल अन्दर गद्गद् होना चाहिए, यह हमको पढ़ाने वाला है। यह हमारी एम ऑबजेक्ट है। हम पहले सद्गति में थे फिर दुर्गति में आये अब फिर दुर्गति से सद्गति में जाना है। शिवबाबा कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के पाप कट जायेंगे।

तुम बच्चे जानते हो – जब द्वापर में रावण राज्य होता है तो 5 विकार रूपी रावण सर्वव्यापी हो जाता है। जहाँ विकार सर्वव्यापी है वहाँ बाप सर्वव्यापी कैसे हो सकता है। सभी मनुष्य पाप आत्मायें हैं ना। बाप सम्मुख है तब तो ऐसे कहते हैं कि मैंने कहा ही नहीं है, उल्टा समझ गये हैं। उल्टा समझते, विकारों में गिरते-गिरते, गालियां देते-देते भारत का यह हाल हुआ है। क्रिश्चियन लोग भी जानते हैं कि 5 हज़ार वर्ष पहले भारत स्वर्ग था, सभी सतोप्रधान थे। भारतवासी तो लाखों वर्ष कह देते हैं क्योंकि तमोप्रधान बुद्धि बन पड़े है। वह फिर न इतना ऊंच बने, न इतना नींच बने हैं। वह तो समझते हैं बरोबर स्वर्ग था। बाप कहते हैं यह ठीक कहते हैं – 5 हज़ार वर्ष पहले भी मैं तुम बच्चों को रावण की जेल से छुड़ाने आया था, अब फिर छुड़ाने आया हूँ। आधाकल्प है राम राज्य, आधाकल्प है रावण राज्य। बच्चों को चांस मिलता है तो समझाना चाहिए।

बाबा भी तुम बच्चों को समझाते हैं – बच्चे, ऐसे-ऐसे समझाओ। इतने अपरमअपार दु:ख क्यों हुए हैं? पहले तो अपरमअपार सुख थे जब इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। यह सर्वगुण सम्पन्न थे, अब यह नॉलेज है ही नर से नारायण बनने की। पढ़ाई है, इनसे दैवी कैरेक्टर्स बनते हैं। इस समय रावण के राज्य में सभी के कैरेक्टर्स बिगड़े हुए हैं। सबके कैरेक्टर्स सुधारने वाला तो एक ही राम है। इस समय कितने धर्म हैं, मनुष्यों की कितनी वृद्धि होती रहती है, ऐसे ही वृद्धि होती रहेगी तो फिर खाना भी कहाँ से मिलेगा! सतयुग में तो ऐसी बातें होती नहीं हैं। वहाँ दु:ख की कोई बात ही नहीं। यह कलियुग है दु:खधाम, सब विकारी हैं। वह है सुखधाम, सभी सम्पूर्ण निर्विकारी हैं। घड़ी-घड़ी उन्हों को यह बतलाना चाहिए तो कुछ समझ जाएं। बाप कहते हैं मैं पतित-पावन हूँ, मुझे याद करने से तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के पाप कट जायेंगे। अब बाप कैसे कहेंगे! जरूर शरीर धारण कर बोलेंगे ना। पतित-पावन सर्व का सद्गति दाता एक बाप है, जरूर वह किसी रथ में आया होगा। बाप कहते हैं मैं इस रथ में आता हूँ, जो अपने जन्मों को नहीं जानते हैं। बाप समझाते हैं यह 84 जन्मों का खेल है, जो पहले-पहले आये होंगे वही आयेंगे, उनके ही बहुत जन्म होंगे फिर कम होते जायेंगे। सबसे पहले देवताये आये। बाबा बच्चों को भाषण करना सिखलाते हैं – ऐसे-ऐसे समझाना चाहिए। अच्छी रीति याद में रहेंगे, देह-अभिमान नहीं होगा तो भाषण अच्छा करेंगे। शिवबाबा देही-अभिमानी है ना। कहते रहते हैं – बच्चे, देही-अभिमानी भव। कोई विकार न रहे, अन्दर में कोई शैतानी न रहे। तुम्हें किसको भी दु:ख नहीं देना है, किसकी निंदा नहीं करनी है। तुम बच्चों को कभी भी सुनी-सुनाई बातों पर विश्वास नहीं करना चाहिए। बाप से पूछो – यह ऐसे कहते हैं, क्या सत्य है? बाबा बता देंगे। नहीं तो बहुत हैं जो झूठी बातें बनाने में देरी नहीं करते हैं – फलाने ने तुम्हारे लिए ऐसे-ऐसे कहा, सुनाकर उनको ही खाक कर देंगे। बाबा जानते हैं, ऐसे बहुत होता है। उल्टी-सुल्टी बातें सुनाकर दिल को खराब कर देते हैं इसलिए कभी भी झूठी बातें सुनकर अन्दर में जलना नहीं चाहिए। पूछो फलाने ने मेरे लिए ऐसे कहा है? अन्दर सफाई होनी चाहिए। कई बच्चे सुनी-सुनाई बातों पर भी आपस में दुश्मनी रख देते हैं। बाप मिला है तो बाप से पूछना चाहिए ना। ब्रह्मा बाबा पर भी बहुतों को विश्वास नहीं होता है। शिवबाबा को भी भूल जाते हैं। बाप तो आये हैं सबको ऊंच बनाने। प्यार से उठाते रहते हैं। ईश्वरीय मत लेनी चाहिए। निश्चय ही नहीं होगा तो पूछेंगे ही नहीं तो रेसपान्ड भी नहीं मिलेगा। बाप जो समझाते हैं उसको धारण करना चाहिए।

तुम बच्चे श्रीमत पर विश्व में शान्ति स्थापन करने के निमित्त बने हो। एक बाप के सिवाए और कोई की मत ऊंच ते ऊंच हो नहीं सकती। ऊंच ते ऊंच मत है ही भगवान् की। जिससे मर्तबा भी कितना ऊंचा मिलता है। बाप कहते हैं अपना कल्याण कर ऊंच पद पाओ, महारथी बनो। पढ़ेंगे ही नहीं तो क्या पद पायेंगे। यह है कल्प-कल्पान्तर की बात। सतयुग में दास-दासियां भी नम्बरवार होते हैं। बाप तो आये हैं ऊंच बनाने परन्तु पढ़ते ही नहीं हैं तो क्या पद पायेंगे। प्रजा में भी तो ऊंच-नीच पद होते हैं ना, यह बुद्धि से समझना है। मनुष्यों को पता नहीं पड़ता है कि हम कहाँ जाते हैं। ऊपर जाते हैं या नीचे उतरते जाते हैं। बाप आकर तुम बच्चों को समझाते हैं कहाँ तुम गोल्डन, सिलवर एज में थे, कहाँ आइरन एज में आये हो। इस समय तो मनुष्य, मनुष्य को खा लेते हैं। अब यह सभी बातें जब समझें तब कहें कि ज्ञान किसको कहा जाता है। कई बच्चे एक कान से सुनकर दूसरे से निकाल देते हैं। अच्छे-अच्छे सेन्टर्स के अच्छे-अच्छे बच्चों की क्रिमिनल आई रहती है। फायदा, नुकसान, इज्ज़त की परवाह थोड़ेही रखते हैं। मूल बात है ही क्रिमिनल आई की। बाप समझाते हैं काम महाशत्रु है, इनको जीतने के लिए कितना माथा मारते हैं। मूल बात है ही पवित्रता की। इस पर ही कितने झगड़े होते हैं। बाप कहते हैं यह काम महाशत्रु है, इन पर जीत पहनो तब ही जगत जीत बनेंगे। देवतायें सम्पूर्ण निर्विकारी हैं ना। आगे चल समझ ही जायेंगे। स्थापना हो ही जायेगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कभी भी सुनी-सुनाई बातों पर विश्वास करके अपनी स्थिति खराब नहीं करनी है। अन्दर में सफाई रखनी है। झूठी बातें सुनकर अन्दर में जलना नहीं है, ईश्वरीय मत ले लेनी है।

2) देही-अभिमानी बनने का पूरा पुरुषार्थ करना है, किसी की भी निंदा नहीं करनी है। फायदा, नुकसान और इज्ज़त को ध्यान में रखते हुए क्रिमिनल आई को खत्म करना है। बाप जो सुनाते हैं उसे एक कान से सुनकर दूसरे से निकालना नहीं है।

वरदान:- निश्चय और नशे के आधार से हर परिस्थिति पर विजय प्राप्त करने वाले सिद्धि स्वरूप भव
योग द्वारा अब ऐसी सिद्धि प्राप्त करो जो अप्राप्ति भी प्राप्ति का अनुभव कराये। निश्चय और नशा हर परिस्थिति में विजयी बना देता है। आगे चलकर ऐसे पेपर भी आयेंगे जो सूखी रोटी भी खानी पड़ेगी। लेकिन निश्चय, नशा और योग के सिद्धि की शक्ति सूखी रोटी को भी नर्म बना देगी। परेशान नहीं करेगी। आप सिद्धि स्वरूप की शान में रहो तो कोई भी परेशान नहीं कर सकता। कोई भी साधन हैं तो आराम से यूज़ करो लेकिन समय पर धोखा न दें – यह चेक करो।
स्लोगन:- निमित्त बन यथार्थ पार्ट बजाओ तो सर्व के सहयोग की मदद मिलती रहेगी।

TODAY MURLI 1 JULY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 1 July 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 June 2018 :- Click Here

01/07/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
14/12/83

The family of God is the most elevated family of all.

Today, BapDada was seeing His elevated Brahmin family. The Brahmin family is the highest family. Do all of you know this very well? BapDada has first of all brought you into the loving relationship of a family. Baba hasn’t just given you knowledge that you are an elevated soul, but the knowledge that you, an elevated soul, are a child. He brought you into the relationship of Father and child and, because of coming into this relationship, the pure relationship of brothers and sisters was forged amongst you. What does it become where there is the relationship of BapDada and brothers and sisters? God’s family. Did you ever even dream about such fortune – that you would become an heir in God’s family in a corporeal form and claim a right to the inheritance? To become an heir is the most elevated fortune of all. Did you ever think that the Father Himself would come and adopt a corporeal form, just like you children, and give you the experience of Father and child and all relationships? You never even thought that you would receive sustenance from God in the corporeal form. However, you are experiencing this now, are you not? You attained the fortune to experience all of this when you became part of God’s family. So, you became the children who have a right to such an elevated family. You are being sustained with such pure sustenance. Look how you are swinging in the swing of subtle attainment! You are experiencing all of this, are you not? Your family has changed. The age has changed. Your religion and actions have changed. Because the age has changed, you have come away from the world of sorrow into the world of happiness. From being ordinary souls you have become the most elevated beings. You lived in the dirt for 63 births and now, from dirt, you have become lotuses. To come into God’s family means to make your line of fortune elevated for birth after birth. This is God’s family (parivar). “Parivar” means to go beyond (par) any attack (var). There can never be an attack on God’s children. When you belong to God’s family, your treasure-store of all attainments becomes full for all time. You become such master almighty authorities that even nature will become the servant of you children of God and serve you. Nature will consider you, who belong to God’s family, to be elevated and will fan you for birth after birth. Elevated souls are fanned as a welcome or as a sign of regard for them. Nature will give you regard all the time. Even today, all souls have love for God’s family. Even today, people continue to give praise and perform worship on the basis of that love. Even today, people listen to and relate the Bhagawad, the scripture of the memorial of the divine activities of God’s family with love. People listen to and speak about the Gita, which is the memorial of the study, the Teacher of this Godly family and the Godly student life , with so much purity and in the right way. The memorial of God’s family is also celebrated and worshipped in the form of the Sun, the moon and the lucky stars in the sky. Those who belong to God’s family become seated on the Father’s heart throne. No one, except those who belong to God’s family, can attain such a throne. This is the speciality of God’s family. However many children there are, all of them become seated on the throne. In no other royal family do all the children claim the throne. However, all of God’s children have a right. Throughout the whole cycle, have you ever seen such a big and elevated throne on which all are able to be seated? God’s family is such that everyone claims a right to self-sovereignty. He makes all of you into kings. As soon as you take birth, BapDada gives all of you children the tilak of self-sovereignty. He doesn’t give all of you the tilak of becoming subjects, but the tilak of becoming a king. Praise is also sung of the tilak of the kingdom. The day of receiving the tilak of the kingdom is especially celebrated. Have all of you celebrated your day of receiving the tilak of the kingdom? Or have you yet to celebrate it? You have celebrated it, have you not? A tilak is a sign of happiness, a sign of fortune and a sign of a serious problem having been removed. When someone is going away to do some special task, his family members send him on his way after applying a tilak so that the task is successfully accomplished. All of you have already applied the tilak, have you not? You have become those who have the tilak, the throne and the crown of world benefit, have you not? The future reward of the crown and tilak is the result of the attainment of this birth. Now is the time for special attainment and to attain the mine of all attainments. If you don’t receive this now, you won’t receive the future reward. The praise of this life is that the children of the Bestower, the children of the Bestower of Blessings, lack nothing. In the future, there will be at least one thing lacking. You won’t have a meeting with the Father, will you? So, to be in God’s family is to have a life of all attainments. You have reached such a family, have you not? You do believe yourselves to be part of such an elevated family, do you not? If you were to praise this life, many nights and days would go by. Look how the devotees spend so many days and nights just singing songs of praise! They are singing them even now. So, do you have such intoxication and happiness all the time? Do you always remember the riddle “Who am I”? You are not caught up in the cycle of remembering and forgetting, are you? You have become free from this cycle, have you not? To become a spinner of the discus of self-realisation means to become free from the spinning of many limited things. You have become like this, have you not? All of you are spinners of the discus of self-realisation, are you not? You are masters, are you not? A master knows everything. Every day at amrit vela, keep in your awareness “Who am I”? and you will always be powerful. Achcha.

BapDada is seeing the unlimited family. The unlimited Father is giving the unlimited family unlimited love and remembrance.

To those who constantly maintain the intoxication of the elevated family and who know the importance of God’s family and thereby become great, to those who attain the treasure-store of all attainments and the elevated fortune of the kingdom, to God’s jewels, love, remembrance and namaste.

BapDada meeti ng Uncle and Auntie from Guyana :

BapDada is meeting and also welcoming the serviceable children. To the extent that you have been remembering Baba at every moment, in return for that, BapDada accordingly merges you in His eyes and welcomes you children. Seeing the children who sing praise of the one Father, BapDada also sings songs of the speciality of such children. You sing such songs every day at every moment, do you not? What does the Father do when the children sing such songs? What do those listening do when someone sings a very good song? They start dancing against their conscious wish. Even though they may not know how to dance, even whilst sitting, they would start dancing. So, when children sing songs of love, BapDada dances in happiness. This is why the dance of Shankar is very well known. Service is also just dancing, is it not? What does the mind do when you are doing service? It dances, does it not? So, doing service is also dancing. Achcha.

BapDada always sees the special speciality of the children. As soon as you took birth you received three tilaks from BapDada. What are they? You have the crown and the throne anyway, but the three tilaks are special. You have already received the tilak of self-sovereignty. The second tilak you received as soon as you took birth is that of being serviceable. The third tilak you received at birth is that of being loving and co-operative with all the family and with BapDada. You received all three tilaks as soon as you took birth, did you not? Therefore, you are those who have the trimurti tilak. Do you always consider yourselves to be such special servers? According to the drama, you have received the service of becoming instruments to give many souls zeal and enthusiasm. Achcha. To the extent that the children remember the Father, the Father also remembers you. The most constant and imperishable remembrance is the Father’s remembrance. Children also get busy in other tasks, but the Father only has this work to do. From amrit vela, He begins the task of awakening everyone. Look how many children He has to awaken, and they are in this land and also abroad; they are not all in one place. Even then, children ask: What does Baba do all day?

After the children, Baba then has to awaken the devotees and then He inspires the scientists. He has to look after all the children. Whether they are knowledgeable or without knowledge, they are all co-operative in many different ways. He has to serve so many types of children. Who is the most busy? The only difference is that there is no bondage of a body. Now, all of you will also become equal to the Father for a time; you will live in the incorporeal world. This desire of everyone will also be fulfilled. Achcha.

BapDada meeting Madhuban residents:

You already know the praise of the Madhuban residents. The praise of Madhuban is also the praise of the residents of Madhuban. What could be greater fortune than to be close to the corporeal form at every moment? You are sitting on the doorstep, you are sitting in the home, you are sitting in the heart. The residents of Madhuban don’t need to make effort. Do you need to have yoga? Your yoga is already connected. Those whose yoga is already connected don’t need to make the effort to connect their yoga. You are natural and constant yogis. Just as a train has an engine connected and all the carriages stay on the rails, they don’t need to be made to move individually, in the same way, all of you are on the rails of Madhuban, the engine is connected and so you automatically continue to move along. “Residents of Madhuban” means conquerors of Maya. Maya will try (koshish) to come, but those who stay in the attraction (kashish) of the Father will always be conquerors of Maya. The efforts of Maya will end from a distance. All of you do very good service. You are an example of service. When someone fluctuates in service somewhere or other, then everyone gives the example of the residents of Madhuban. You all do so much tireless service in Madhuban with love, considering it to be your home; this is what everyone believes. Just as you are all number one in service and you have claimed 100% marks, in the same way, you need to have 100% marks in every subject. You all write on the board: You receive all three – health, wealth and happiness. Therefore, you also need to have these marks in all the subjects. It is the residents of Madhuban who listen to Baba the most. The first fresh produce is eaten by those of Madhuban. Others have special Brahma bhojan once when they come during their turn. You all eat it every day. You receive subtle and physical food hot and fresh! Achcha.

What new preparations are you making? You are decorating your home very well with a lot of love. The speciality of Madhuban is that every time there is one new addition or other. Just as everyone sees newness in a physical way, in the same way, let them see and speak about the newness each time: this time we have seen such and such special wave of attainment in Madhuban. There are different waves, are there not? Sometimes, let there especially be the waves of bliss, sometimes of love, sometimes of the specialities of knowledge. Let each one see just these waves. Just as when someone goes into the waves of the sea, he has to move along with the waves or else he would drown, so let these waves be very clearly visible. What special things will you do in this conferenceVIPswill come, journalists will come, there will be workshops; all this will happen. However, what special things will all of you do? What is the speciality of the physical Dilwala Temple? The design in every little room or alcove is different. Every room has its own speciality. This is why, out of all temples, that temple is unique. Even other temples have idols, but wherever you go in that temple, it has a special carved design. In the same way, in this living Dilwala Temple, let the speciality of every individual idol be visible. Whoever they see, let them see such special specialities that each one’s speciality is more special than that of the others. Just as people say there that it is the wonder of the one who built it, in the same way, here, let them speak about the speciality of each one. All of you should have a meeting about this. It is not a big thing, you can do it. In the golden age the deities listen to their teachers just for the sake of it, but their awareness will be very sharp and they won’t need to make any effort to remember. It is as though they have already heard it and it is just being refreshed. So, for the residents of Madhuban too, everything is already accomplished. There is just a little signal for determined thoughts, that’s all! You do also have very good thoughts but, in that too, repeatedly underline “determination” in them.

Blessing: May you be free from any desire (ichcha) and with remembrance of the Father, the Comforter of Hearts, make all three aspects of time good (achcha).
The children who have remembrance of the one Father, the Comforter of Hearts, in their heart constantly sing songs of “Wah wah!” No sound of distress can emerge in their minds, even in their dreams, because whatever happened was “wah” (wonderful), what is happening is “wah” and whatever is to happen is also “wah”. All three aspects of time are “wah wah”, that is, the best of all. Where everything is good, there cannot be any desire, because everything is said to be good when you have all attainments. To be full of all attainments is to be free of desires.
Slogan: Make your sanskars so pure and cool that no sanskars of force or bossiness emerge.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 1 JULY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 July 2018

To Read Murli 30 June 2018 :- Click Here
01-07-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 14-12-83 मधुबन

प्रभु परिवार – सर्वश्रेष्ठ परिवार

आज बापदादा अपने श्रेष्ठ ब्राह्मण परिवार को देख रहे हैं। ब्राह्मण परिवार कितना ऊंचे ते ऊंचा परिवार है। उसको सभी अच्छी तरह से जानते हो? बापदादा ने सबसे पहले परिवार के प्यारे सम्बन्ध में लाया। सिर्फ श्रेष्ठ आत्मा हो, यह ज्ञान नहीं दिया लेकिन श्रेष्ठ आत्मा, बच्चे हो। तो बाप और बच्चे के सम्बन्ध में लाया। जिस सम्बन्ध में आने से आपस में भी पवित्र सम्बन्ध भाई-बहन का जुटा। जहाँ बापदादा, भाई-बहन का सम्बन्ध जुटा तो क्या हो गया! प्रभु परिवार। कभी स्वप्न में भी ऐसे भाग्य को सोचा था कि साकार रूप से डायरेक्ट प्रभु परिवार में वारिस बन वर्से के अधिकारी बनेंगे? वारिस बनना सबसे श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ भाग्य है। कभी सोचा था कि स्वयं बाप हम बच्चों के लिए हमारे समान साकार रूपधारी बन बाप और बच्चे का वा सर्व सम्बन्धों का अनुभव करायेंगे? सकार रूप में प्रभु पालना लेंगे, यह कभी संकल्प में भी नहीं था। लेकिन अभी अनुभव कर रहे हो ना! यह सब अनुभव करने का भाग्य तब प्राप्त हुआ जब प्रभु परिवार के बने। तो कितने ऊंचे परिवार के अधिकारी बच्चे बने। कितनी पवित्र पालना में पल रहे हो! कैसे अलौकिक प्राप्तियों के झूलें में झूल रहे हो! यह सब अनुभव करते हो ना। परिवार बदल गया। युग बदल गया। धर्म, कर्म सब बदल गया। युग परिवर्तन होने से दु:ख के संसार से सुखों के संसार में आ गये। साधारण आत्मा से पुरुषोत्तम बन गये। 63 जन्म कीचड़ में रहे और अभी कीचड़ में कमल बन गये। प्रभु परिवार में आना अर्थात् जन्म-जन्मान्तर के लिए तकदीर की लकीर श्रेष्ठ बन जाना। प्रभु परिवार, परिवार अर्थात् वार से परे हो गये। कभी भी प्रभु बच्चों पर वार नहीं हो सकता। प्रभु परिवार का बने, सदा के लिए सर्व प्राप्तियों के भण्डार भरपूर हो गये। ऐसे मास्टर सर्वशक्तिमान बन गये जो प्रकृति भी आप प्रभु बच्चों की दासी बन सेवा करेगी। प्रकृति आप प्रभु परिवार को श्रेष्ठ समझ आपके ऊपर जन्म जन्मान्तर के लिए चंवर (पंखा) झुलाती रहेगी। श्रेष्ठ आत्माओं के स्वागत में, रिगार्ड में चंवर झुलाते हैं ना। प्रकृति सदाकाल के लिए रिगार्ड देती रहेगी। प्रभु परिवार से अभी भी सर्व आत्माओं को स्नेह है। उसी स्नेह के आधार पर अभी तक गायन और पूजन करते रहते हैं। प्रभु परिवार के चरित्रों का अभी भी कितना बड़ा यादगार शास्त्र भागवत, प्यार से सुनते और सुनाते रहते हैं। प्रभु परिवार का शिक्षक और गाडली स्टूडेन्ट लाइफ का, पढ़ाई का यादगार शास्त्र गीता कितने पवित्रता से विधिपूर्वक सुनते और सुनाते हैं। प्रभु परिवार का यादगार आकाश में भी सूर्य, चन्द्रमा और लकी सितारों के रूप में मनाते और पूजते रहते हैं। प्रभु परिवार बाप के दिलतख्तनशीन बनते, ऐसा तख्त सिवाए प्रभु परिवार के और किसको भी प्राप्त हो नहीं सकता। प्रभु परिवार की यही विशेषता है। जितने भी बच्चे हैं सब बच्चे तख्तनशीन बनते हैं। और कोई भी राज्य परिवार में सब बच्चे तख्तनशीन नहीं होते हैं। लेकिन प्रभु के बच्चे सब अधिकारी हैं। इतना श्रेष्ठ और बड़ा तख्त सारे कल्प में देखा, जिसमें सभी समा जाएं? प्रभु परिवार ऐसा परिवार है जो सभी स्वराज्य अधिकारी होते। सभी को राजा बना देता। जन्म लेते ही स्वराज्य का तिलक बापदादा सभी बच्चों को देते हैं। प्रजा तिलक नहीं देते, राज्य तिलक देते हैं। महिमा भी राज्य तिलक की है ना। राज-तिलक दिवस विशेष मनाया जाता है। आप सबने अपना राज तिलक दिवस मनाया है या अभी मनाना है? मना लिया है ना! खुशी की निशानी, भाग्य की निशानी, संकट दूर होने की निशानी, तिलक होता है। जब कोई किसी कार्य पर जाते हैं, कार्य सफल रहे उसके लिए परिवार वाले तिलक लगाकर भेजते हैं। आप सबको तो तिलक लगा हुआ है ना। तिलकधारी, तख्तधारी, विश्व-कल्याण के ताजधारी बन गये हो ना। भविष्य का ताज और तिलक इसी जन्म के प्राप्ति की प्रालब्ध है। विशेष प्राप्ति का समय वा प्राप्तियों की खान प्राप्त होने का समय अभी है। अभी नहीं तो भविष्य प्रालब्ध भी नहीं। इसी जीवन का गायन है दाता के बच्चों को, वरदाता के बच्चों को अप्राप्त नहीं कोई वस्तु। भविष्य में फिर भी एक अप्राप्ति तो होगी ना। बाप का मिलन तो नहीं होगा ना। तो सर्व प्राप्तियों का जीवन ही ईश्वरीय परिवार है। ऐसे परिवार में पहुंच गये हो ना। समझते हो ना ऐसे ऊंचे परिवार के हैं! जिसकी महिमा करें तो अनेक रात दिन बीत जाएं। देखो, भक्तों को कीर्तन गाते-गाते कितने दिन और रात बीत जाते हैं। अभी तक भी गा रहे हैं। तो ऐसा नशा और खुशी सदा रहती है? मैं कौन! यह पहेली सदा याद रहती है? विस्मृति-स्मृति के चक्र में तो नहीं आते हो ना! चक्र से तो छूट गये ना। स्वदर्शन चक्रधारी बनना अर्थात् अनेक हद के चक्करों से छूट जाना। ऐसे बन गये हो ना। सभी स्वदर्शन चक्रधारी हो ना। मास्टर हो ना! तो मास्टर सब जानते हैं! रोज़ अमृतवेले मैं कौन – यह स्मृति में रखो तो सदा समर्थ रहेंगे। अच्छा!

बापदादा बेहद के परिवार को देख रहे हैं। बेहद का बाप बेहद के परिवार को बेहद की याद-प्यार देते हैं।

सदा श्रेष्ठ परिवार के नशे में रहने वाले प्रभु परिवार के महत्व को जान महान बनने वाले, सर्व प्राप्तियों के भण्डार श्रेष्ठ राज्य भाग्य प्राप्त करने वाले प्रभु रत्नों को याद-प्यार और नमस्ते।

(ग्याना के अंकल और आंटी से) सर्विसएबुल बच्चों को बापदादा मिलन के साथ स्वागत कर रहे हैं। जितना पल-पल याद करते आये हो उसके रिटर्न में बापदादा नयनों की पलकों में समाए हुए बच्चों का स्वागत कर रहे हैं। एक बाप के गुण गाने वाले बच्चों को देख बापदादा भी बच्चों की विशेषता के गुण गाते हैं। निशदिन, निशपल, गीत गाते रहते हो ना। जब बच्चे गीत गाते तो बाप क्या करते? जब कोई अच्छा गीत गाता है तो सुनने वाले क्या करते हैं? न चाहते हुए भी नाचने लग जाते हैं। चाहे नाचना आवे या न आवे लेकिन बैठे-बैठे भी नाचने लग जाते हैं। तो बच्चे जब स्नेह के गीत गाते हैं तो बापदादा भी खुशी में नाचते हैं ना इसीलिए शंकर डांस बहुत मशहूर है। सेवा भी तो नाचना है ना। जिस समय सर्विस करते हो उस समय मन क्या करता है? नाचता है ना। तो सेवा करना भी नाचना ही है। अच्छा

बापदादा सदा बच्चों की विशेष विशेषता को देखते हैं। जन्मते ही विशेष 3 तिलक बापदादा द्वारा मिले हैं। कौन से? ताज, तख्त तो हैं ही लेकिन 3 तिलक विशेष हैं। एक स्वराज्य का तिलक तो मिला ही है। दूसरा जन्मते ही सर्विसएबल का तिलक मिला। तीसरा जन्मते ही सर्व परिवार के, बापदादा के स्नेही और सहयोगीपन का तिलक। तीनों तिलक जन्मते ही मिले ना। तो त्रिमूर्ति तिलकधारी हो। ऐसे विशेष सेवाधारी सदा अपने को समझते हो। अनेक आत्माओं को उमंग – उत्साह दिलाने के निमित्त बनने की सेवा ड्रामा में मिली हुई है। अच्छा। जितना बच्चे बाप को याद करते हैं, उतना बाप भी तो याद करते हैं। सबसे ज्यादा अखण्ड अविनाशी बाप की याद है। बच्चे और कार्य में भी बिजी हो जाते हैं लेकिन बाप का तो काम ही यह है। अमृतवेले से लेकर सबको जगाने का काम शुरू करते हैं। देखो कितने बच्चों को जगाना पड़ता है और फिर देश-विदेश में, एक स्थान पर भी नहीं हैं। फिर भी बच्चे पूछते सारा दिन क्या करते!

बच्चों के बाद फिर भक्तों को करते, फिर साइंस वालों को प्रेरणा देते। सभी बच्चों की देख-रेख तो करनी पड़े। चाहे ज्ञानी हैं, चाहे अज्ञानी हैं लेकिन कई प्रकार से सहयोगी तो हैं ना। कितने प्रकार के बच्चों की सेवा है। सबसे ज्यादा बिज़ी कौन हैं? सिर्फ अन्तर यह है, शरीर का बन्धन नहीं है। अभी कुछ टाइम तो आप सब भी बाप समान बनेंगे ही। मूलवतन में रहेंगे। यह भी आशा सभी को पूरी होगी। अच्छा-

मधुबन निवासियों के साथ – मधुबन निवासियों की महिमा तो जानते ही हो। जो मुधबन की महिमा है वही मधुबन निवासियों की महिमा है। हर पल समीप साकार में रहना इससे बड़ा भाग्य और क्या हो सकता है। दर पर बैठे हो, घर में बैठे हो, दिल पर बैठे हो। मधुबन निवासियों को मेहनत करने की आवश्यकता नहीं, योग लगाने की आवश्यकता है क्या! योग लगा हुआ ही रहता है। लगे हुए को लगाने की आवश्यकता नहीं। स्वत:योगी, निरन्तर योगी। जैसे ट्रेन में इंजन लगी हुई है, सभी डिब्बे पट्टे पर हैं तो स्वत: चलते रहते हैं, चलाना नहीं पड़ता है। ऐसे आप भी मधुबन के पट्टे पर हो, इंजन लगी हुई है तो स्वत: चलते रहेंगे। मधुबन निवासी अर्थात् मायाजीत। माया आने की कोशिश करेगी लेकिन जो बाप की कशिश में रहते हैं वह सदा मायाजीत रहेंगे। माया की कोशिश दूर से ही समाप्त हो जायेगी। सेवा तो सभी बहुत अच्छी करते हैं। सेवा के लिए एक एग्जैम्पुल हो। कोई कहाँ भी चारों ओर सेवा में थोड़ा भी नीचे ऊपर करते हैं तो सभी मधुबन वालों का ही दृष्टान्त देते हैं। मधुबन में कितनी अथक सेवा प्यार से घर समझकर करते हैं, यह सभी मानते हैं। जैसे सेवा में सभी नम्बरवन हो, 100 मार्क्स ली हैं, ऐसे सब सब्जेक्ट में भी 100 मार्क्स चाहिए। आप लोग बोर्ड पर लिखते हो ना हेल्थ, वेल्थ, हैपीनेस तीनों ही मिलती हैं। तो यह भी सब सबजेक्ट में मार्क्स चाहिए। सबसे ज्यादा सुनते मधुबन वाले हैं। पहला-पहला ताज़ा माल तो मधुबन वाले खाते हैं। दूसरे तो एक टर्न में एक बारी विशेष ब्रह्मा भोजन खाते। आप तो रोज़ खाते। सूक्ष्म भोजन, स्थूल भोजन सब गर्म, ताजा मिलता है। अच्छा –

नई तैयारी क्या कर रहे हो? घर को तो अच्छा प्यार से सजा रहे हो। मधुबन की यह विशेषता है, हर बार कोई न कोई नई एडीशन हो जाती है। जैसे स्थूल में नवीनता देखते, ऐसे चैतन्य में भी हर बार नवीनता देख वर्णन करें कि इस बार विशेष मधुबन में इस प्राप्ति की लहर देखी। भिन्न-भिन्न लहरें हैं ना। कभी विशेष आनन्द की लहर हो, कभी प्यार की, कभी ज्ञान के विशेषताओं की.. हरेक को यही लहर दिखाई दे। जैसे सागर की लहरों में कोई जाता तो लहराना ही पड़ता, नहीं तो डूब जायेगा। तो यह लहरें स्पष्ट दिखाई दें। इस कानफ्रेन्स में विशेष क्या करेंगे? वी.आई.पीज़. आयेंगे, पेपर वाले आयेंगे, वर्कशाप होंगी, यह तो होगा लेकिन आप सब विशेष क्या करेंगे? जैसे स्थूल दिलवाड़ा है उसकी विशेषता क्या है? हरेक कमरे की डिज़ाइन अलग-अलग वैरायटी है। हर कमरे की अपनी-अपनी विशेषता है। इसलिए यह मन्दिर सब मन्दिरों से न्यारा है। मूर्तियां तो औरों में भी होती हैं लेकिन इस मन्दिर में जहाँ जाओ वहाँ विशेष कारीगरी है। ऐसे चैतन्य दिलवाड़ा मन्दिर में भी हर मूर्तियों की विशेषता अपनी-अपनी दिखाई दे। जिसको देखें, उसकी एक दो से आगे विशेष विशेषता दिखाई दे। जैसे वहाँ कहते कमाल है बनाने वाले की। ऐसे यहाँ एक-एक की विशेषता की कमाल वर्णन करें। आप लोग इस बात की मीटिंग करो। कोई बड़ी बात नहीं है, कर सकते हो। जैसे सतयुग में देवतायें सिर्फ निमित्तमात्र टीचर द्वारा थोड़ा-सा सुनेंगे लेकिन स्मृति बहुत तेज़ होगी, याद करने की मेहनत नहीं करनी पड़ेगी। जैसे सुना हुआ ही है, वह सिर्फ फ्रेश हो रहा है। मधुबन वालों के लिए हुआ पड़ा है। सिर्फ थोड़ा-सा दृढ़ संकल्प का इशारा है बस। संकल्प भी बहुत अच्छे-अच्छे करते हो लेकिन उसमें दृढ़ता को बार-बार अन्डरलाइन करो। अच्छा!

वरदान:- दिलाराम बाप की याद द्वारा तीनों कालों को अच्छा बनाने वाले इच्छा मुक्त भव 
जिन बच्चों की दिल में एक दिलाराम बाप की याद है वह सदा वाह-वाह के गीत गाते रहते हैं, उनके मन से स्वप्न में भी ”हाय” शब्द नहीं निकल सकता क्योंकि जो हुआ वह भी वाह, जो हो रहा है वह भी वाह और जो होना है वह भी वाह। तीनों ही काल वाह-वाह है अर्थात् अच्छे ते अच्छा है। जहाँ सब अच्छा है वहाँ कोई इच्छा उत्पन्न नहीं हो सकती क्योंकि अच्छा तब कहेंगे जब सब प्राप्तियां हैं। प्राप्ति सम्पन्न बनना ही इच्छा मुक्त बनना है।
स्लोगन:- संस्कारों को ऐसा शीतल बना लो जो जोश वा रोब के संस्कार इमर्ज ही न हों।
Font Resize