1 december ki murli

TODAY MURLI 1 DECEMBER 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 1 December 2020

01/12/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are now learning spiritual drill from the spiritual Father. Through this drill, you will go to the land of liberation, the land of silence.
Question: The Father inspires you children to make effort, but which aspect should you remain very strict about?
Answer: Before the old world is set on fire, you have to remain very strict about becoming ready by considering yourselves to be souls, staying in remembrance of the Father and claiming your full inheritance. You mustn’t fail. When students fail, they repent a great deal because they feel that they have wasted their whole year. Some say: What does it matter if I haven’t studied? However, you do have to remain very strict. The Teacher should not have to say to you: Too late!

Om shanti. The spiritual Father gives you spiritual children directions in this spiritual school. Or, it can be said that He teaches you children drill, just as teachers give directions and teach drill. This spiritual Father also tells you children directly. What does He tell you? Manmanabhav! Just as they say, “Attention please!”, the Father says: Manmanabhav! This is like each one of you being merciful to yourself. The Father says: Children, constantly remember Me alone! Become bodiless! Only the spiritual Father teaches you spirits this spiritual drill. He is the Supreme Teacher and you are assistant teachers. You also tell everyone: Consider yourself to be a soul and remember the Father. May you be soul conscious! This is also the meaning of “Manmanabhav”. He gives directions for the benefit of the children. He, Himself, hasn’t studied with anyone. All other teachers learn from someone and then teach others. That One hasn’t studied in any school etc. He only teaches you. He says: I teach you spirits spiritual drill. All others teach physical drill to physical children. They have to perform that drill with their physical bodies. Here, there is no question of a body. The Father says: I don’t have a body. I simply teach you drill and give you directions. According to the drama plan, He has the part recorded in Him of teaching this drill. This service is recorded in Him. He just comes to teach drill. You have to change from tamopradhan to satopradhan. This is very easy. You have the ladder in your intellects. You know how you went around the cycle of 84 births and came down. The Father says: You now have to return home. No one else would say to his followers or students: Ospiritual children, you now have to return home. No one, except the spiritual Father, can explain this. You children understand that you now have to return home. This world is now tamopradhan. We were the masters of the satopradhan world and now, having gone around the cycle of 84 births, we have become the masters of the tamopradhan world. There is nothing but sorrow here. The Father is called the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness, that is, it is only the one Father who makes tamopradhan ones satopradhan. You children understand that you experienced a lot of happiness. You don’t remember how you ruled the kingdom but your aim and objective is in front of you. That is the garden of flowers. We are now changing from thorns into flowers. You would not ask how to develop faith. If you have any doubts you are led to destruction. When you step away from this school, your study stops. Your status is then destroyed and there is a great loss. Your status would become very low even among the subjects. The main thing is to become satopradhan, worthy-of-worship deities. You are not deities now. You Brahmins have now received understanding. Only Brahmins come and study this drill from the Father. Internally, you also have happiness. You like this study, do you not? These are the versions of God. Although they inserted Krishna’s name, you understand that Krishna did not teach this drill. Only the Father teaches this. He is also teaching the Krishna soul who has become tamopradhan while adopting different names and forms. The Father never learns this Himself; everyone else definitely learns from someone or other. That One is the spiritual Father who teaches you. He teaches you and you then teach others. You have become impure by taking 84 births and you now have to become pure. For this, remember the spiritual Father. On the path of devotion, you have been singing: O Purifier! Even now, you can go anywhere and see how this is being done. You are Raj Rishis; you can go and travel anywhere; you don’t have any bondage. You children have the faith that the unlimited Father has come to serve you. How could the Father take any fees from children for this study? If a teacher’s child is his student, he would teach him for free. That One also teaches you for free. Don’t think that you are giving something. Those are not fees. You don’t give anything; you are taking a lot in return. People give donations and perform charity because they feel that they will receive the return of that in their next birth; they receive temporary happiness. Although they do receive something in their next birth, they receive it in a birth in which they descend; they continue to come down the ladder. Whatever you do now, it is for going into the ascending stage. People speak about the fruit of karma. Souls receive the fruit of karma. Even Lakshmi and Narayan also received the fruit of their karma, did they not? You receive unlimited fruit from the unlimited Father. The other is received indirectly. That is fixed in the drama. This too is the predestined drama. You know that you will claim your inheritance from the unlimited Father after a cycle. The Father sits here and creates a school for us. That Government has worldly schools where you have been studying in many different ways for half the cycle. The Father is now teaching you in order to remove all your sorrow for 21 births. There, it is the kingdom. Everyone there is numberwise, just as all are numberwise here: you have kings, queens, advisers, subjects etc. This is the old world. There will be very few people in the new world. There will be a lot of happiness there. You are becoming the masters of the world. The emperors and kings have been and gone. People celebrate with so much happiness. However, the Father says: They still have to fall down. Everyone has to fall. The degrees of the deities also gradually decrease, but, because the kingdom of Ravan doesn’t exist there, there is nothing but happiness there. Here, it is the kingdom of Ravan. Just as you ascend, so you also fall down. Souls adopt various names and forms and descend. According to the drama plan, souls have fallen and become tamopradhan exactly as they did in the previous cycle. All sorrow begins when they climb onto the pyre of lust. There is now extreme sorrow. There, there will be extreme happiness. You are Raj Rishis. Theirs is hatha yoga. Ask anyone whether they have the knowledge of the Creator or the beginning, middle and end of creation, and they will reply that they don’t. Only those who understand this can ask others. How could someone who doesn’t know this himself ask anyone else? You know that none of the rishis or munis etc. were trikaldarshi. The Father is making us trikaldarshi. This Baba who was the master of the world did not have this knowledge. Even in this birth, he didn’t have this knowledge until the age of 60. Even when the Father came, it was only gradually that He continued to speak a little knowledge at a time. Even though the intellects of many develop very firm faith, Maya continues to make them fall. Baba cannot tell you their names. Otherwise, they could become disheartened. Baba receives all the news. Sometimes, they keep bad company. Sometimes, they keep the company of someone who has recently married and there is disturbance. They then say that they cannot stay without getting married. Someone who was a good maharathi, who used to go to class every day and who has even been here to Madhuban several times, was caught by Maya, the alligator. Many such cases continue to take place. They aren’t married as yet, but Maya has put them in her mouth and is slowly swallowing them. Maya, in the form of a woman, pulls him. He has fallen into the mouth of the alligator. Then, gradually, she will completely swallow him. Some make mistakes or there is mischief caused just on seeing someone. They also understand that they will fall deep into the pit from up above. It would then be said that that child was very good, but that the poor helpless thing is now finished! As soon as he becomes engaged, he dies. The Father constantly writes to the children: May you always remain alive! Make sure that you are not very forcefully attacked by Maya. Some of these things are mentioned in the scriptures. The things of the present are remembered later. You must continue to inspire them to make effort. It shouldn’t be that Maya, the alligator, swallows them. Maya catches hold of them in many different ways. The main one is lust, the greatest enemy, of which you have to remain very cautious. You can see how the impure world is becoming pure. There is nothing to be confused about in this. By simply considering yourself to be a soul and remembering the Father, all your sorrow will be removed. Only the Father is the Purifier. This is the power of yoga. The ancient Raj Yoga of Bharat is very well known. They believe that 3000 years before Christ there was Paradise. So, there definitely could not have been any other religions. This is such an easy aspect and yet they don’t understand it! You know that the Father has now come once again to establish that kingdom. Shiv Baba also came 5000 years ago. He must definitely have given the same knowledge that He is giving now. The Father Himself says: I come every cycle at the confluence age in an ordinary body to teach you Raj Yoga. You are Raj Rishis. You were not that before. You have been staying with Baba ever since Baba came. You are studying and also doing service: physical service and subtle service. On the path of devotion too, people do service and also take care of their households. The Father says: Devotion has now come to an end and knowledge has begun. I come to grant you salvation through knowledge. It is in your intellects that Baba is purifying you. The Father says: According to the drama, I have come to show you the path. The Teacher is teaching you and your aim and objective is in front of you. This is the highest-on-high study. He continues to explain to you the things that He explained in the previous cycle. The drama continues to tick away. Everything that happens, second by second, will continue to repeat every 5000 years. Days continue to pass by. These thoughts don’t enter the intellect of anyone else. The golden, silver, copper and iron ages have now gone by and they will then repeat. The same things that passed in the previous cycle are now passing. Only a few more days remain. Those people speak of hundreds of thousands of years. In comparison to that, you would say that only a few more hours remain. This too is fixed in the drama. When everything is set on fire, people will wake up. At that time, it will be too late! Therefore, the Father continues to inspire you to make effort. Just sit fully prepared. The Teacher shouldn’t have to tell you that it is too late! Those who fail repent a great deal. They feel that they have wasted their whole year. Some say: What does it matter if I don’t study? You children must remain very strict: “I will claim the full inheritance from the Father.” Consider yourselves to be souls and remember the Father! If there is any difficulty about this, you can ask the Father. This is the main thing. The Father also told you 5000 years ago: Constantly remember Me alone! I am the Purifier. I am the Father of all. Krishna is not the Father of all. You can give this knowledge to the worshippers of Shiva and Krishna. If souls have never become worthy of worship, then, no matter how much you beat your head, they won’t understand. They are now atheists. Perhaps, in the future, they may become theists. For instance, someone may get married and fall and will then come and take knowledge. However, his inheritance would be very much reduced because he has the remembrance of someone else in his intellect. It is very difficult to remove that. First, there is the remembrance of his wife, and then that of his children. There would be a pull even more to the wife than to his children because that remembrance has been there for a long time; the children come later. Then, there is also the remembrance of friends, relatives and in-laws, and so on. First is the wife who has been the companion for a long time. It is the same here. You say that you have been with the deities for a long time. In that case, you should also say that you have had a great deal of love for Shiv Baba for a long time. He made us pure 5000 years ago too. He comes and protects us every cycle, and this is why He is called the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. You have to have a very clear line. The Father says: Whatever you can see with your eyes, it is to be buried in the graveyard. You are now at the confluence age. The land of immortality is going to come. We are now making effort to become the most elevated human beings. This is the most elevated, auspicious, benevolent confluence age. You can see what is happening in the world outside. The Father has now come. Therefore, the old world has to be destroyed. As you make further progress, many will become aware of this. Someone who is changing the world has definitely come. This is that same Mahabharat War. You are becoming so sensible! These things have to be deeply churned. You mustn’t waste your breath. You know that with knowledge, every breath becomes worthwhile. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to remain safe from Maya, be very cautious about the company you keep. Keep a very clear line. Don’t waste your breath, but make it worthwhile with knowledge.
  2. Whatever time you have available, practise performing spiritual drill and accumulate the power of yoga. Don’t create any new bondages now.
Blessing: May you stay under the Father’s canopy of protection and become loving and detached like a lotus even amidst delicate situations.
At the confluence age, when the Father comes as the Server, He constantly serves all the children as a canopy of protection. As soon as you remember Him, you experience His company in a second. This canopy of protection of remembrance makes you loving and detached like a lotus flower amidst delicate situations. You don’t have to work hard. By bringing the Father in front of you and by becoming stable in your original stage, any type of situation is transformed.
Slogan: Do not let a curtain of situations be drawn between you and you will continue to experience the Father’s company.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 1 DECEMBER 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 December 2020

Murli Pdf for Print : – 

01-12-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम अभी रूहानी बाप द्वारा रूहानी ड्रिल सीख रहे हो, इसी ड्रिल से तुम मुक्तिधाम, शान्तिधाम में चले जायेंगे”
प्रश्नः- बाप बच्चों को पुरुषार्थ कराते रहते हैं लेकिन बच्चों को किस बात में बहुत स्ट्रिक्ट रहना चाहिए?
उत्तर:- पुरानी दुनिया को आग लगने के पहले तैयार हो, अपने को आत्मा समझ बाप की याद में रह बाप से पूरा-पूरा वर्सा लेने में बहुत स्ट्रिक्ट रहना है। नापास नहीं होना है, जैसे वह स्टूडेन्ट नापास होते हैं तो पछताते हैं, समझते हैं हमारा वर्ष मुफ्त में चला गया। कोई तो कहते हैं नहीं पढ़ा तो क्या हुआ – लेकिन तुम्हें बहुत स्ट्रिक्ट रहना है। टीचर ऐसा न कहे कि टू लेट।

ओम् शान्ति। रूहानी बाप रूहानी बच्चों को रूहानी पाठशाला में डायरेक्शन देते हैं वा ऐसे कहें कि बच्चों को ड्रिल सिखलाते हैं। जैसे टीचर्स डायरेक्शन देते हैं वा ड्रिल सिखलाते हैं ना। यह रूहानी बाप भी बच्चों को डायरेक्ट कहते हैं। क्या कहते हैं? मनमनाभव। जैसे वह कहते हैं – अटेन्शन प्लीज़। बाप कहते हैं मनमनाभव। यह जैसे हर एक अपने ऊपर मेहर करते हैं। बाप कहते हैं बच्चे मामेकम् याद करो, अशरीरी बन जाओ। यह रूहानी ड्रिल रूहों को रूहानी बाप ही सिखलाते हैं। वह है सुप्रीम टीचर। तुम हो नायब टीचर। तुम भी सबको कहते हो अपने को आत्मा समझो, बाप को याद करो, देही-अभिमानी भव। मनमनाभव का अर्थ भी यह है। डायरेक्शन देते हैं बच्चों के कल्याण लिए। खुद किससे सीखा नहीं। और तो सब टीचर्स खुद सीखकर फिर सिखलाते हैं। यह तो कहाँ स्कूल आदि में पढ़कर सीखा नहीं है। यह सिर्फ सिखलाते ही हैं। कहते हैं मैं तुम रूहों को रूहानी ड्रिल सिखलाता हूँ। वह सब जिस्मानी बच्चों को जिस्मानी ड्रिल सिखलाते हैं। उन्हों को ड्रिल आदि भी शरीर से ही करनी होती है। इसमें तो शरीर की कोई बात ही नहीं। बाप कहते हैं मेरा कोई शरीर नहीं है। मैं तो ड्रिल सिखलाता हूँ, डायरेक्शन देता हूँ। उनमें ड्रिल सिखलाने का ड्रामा प्लैन अनुसार पार्ट भरा हुआ है। सर्विस भरी हुई है। आते ही हैं ड्रिल सिखलाने। तुमको तमोप्रधान से सतोप्रधान बनना है। यह तो बहुत सहज है। सीढ़ी बुद्धि में है। कैसे 84 का चक्र लगाए नीचे उतरे हैं। अब बाप कहते हैं तुमको वापिस जाना है। ऐसे और कोई भी अपने फालोअर्स को या स्टूडेण्ट को नहीं कहेंगे कि हे रूहानी बच्चों अब वापिस जाना है। सिवाए रूहानी बाप के कोई समझा न सके। बच्चे समझते हैं अभी हमको वापिस जाना है। यह दुनिया ही अब तमोप्रधान है। हम सतोप्रधान दुनिया के मालिक थे फिर 84 का चक्र लगाए तमोप्रधान दुनिया के मालिक बने हैं। यहाँ दु:ख ही दु:ख है। बाप को कहते हैं दु:ख हर्ता सुख कर्ता अर्थात् तमोप्रधान से सतोप्रधान बनाने वाला एक ही बाप है। तुम बच्चे समझते हो हमने बहुत सुख देखे हैं। कैसे राजाई की, वह याद नहीं है परन्तु एम ऑब्जेक्ट सामने हैं। वह है ही फूलों का बगीचा। अभी हम कांटे से फूल बन रहे हैं।

तुम ऐसे नहीं कहेंगे कि कैसे निश्चय करें। अगर संशय है तो विनशन्ती। स्कूल से पैर उठाया तो पढ़ाई बन्द हो जायेगी। पद भी विनशन्ती हो जायेगा। बहुत घाटा पड़ जाता है। प्रजा में भी कम पद हो जायेगा। मूल बात ही है सतोप्रधान पूज्य देवी-देवता बनना। अभी तो देवता नहीं हो ना। तुम ब्राह्मणों को समझ आई है। ब्राह्मण ही आकर बाप से यह ड्रिल सीखते हैं। अन्दर में खुशी भी होती है। यह पढ़ाई अच्छी लगती है ना। भगवानुवाच है, भल उन्होंने कृष्ण का नाम डाल दिया है परन्तु तुम समझते हो कृष्ण ने यह ड्रिल सिखलाई नहीं है, यह तो बाप सिखलाते हैं। कृष्ण की आत्मा जो भिन्न नाम-रूप धारण करते तमोप्रधान बनी है, उनको भी सिखलाते हैं। खुद सीखते नहीं, और सब कोई न कोई से सीखते जरूर हैं। यह है ही सिखलाने वाला रूहानी बाप। तुमको सिखलाते हैं, तुम फिर औरों को सिखलाते हो। तुम 84 जन्म ले पतित बने हो, अब फिर पावन बनना है। उसके लिए रूहानी बाप को याद करो। भक्ति मार्ग में तुम गाते आये हो हे पतित-पावन – अभी भी तुम कहाँ भी जाकर देखो। तुम राजऋषि हो ना। कहाँ भी घूम फिर सकते हो। तुमको कोई बंधन नहीं है। तुम बच्चों को यह निश्चय है – बेहद का बाप सर्विस में आये हैं। बाप बच्चों से पढ़ाई का उजूरा कैसे लेंगे। टीचर के ही बच्चे होंगे तो फ्री पढ़ायेंगे ना। यह भी फ्री पढ़ाते हैं। ऐसे मत समझो हम कुछ देते हैं। यह फीस नहीं है। तुम देते कुछ नहीं हो, यह तो रिटर्न में बहुत लेते हो। मनुष्य दान-पुण्य करते हैं, समझते हैं रिटर्न में हमको मिलेगा दूसरे जन्म में। वह अल्पकाल क्षणभंगुर सुख मिलता है। भल मिलता है दूसरे जन्म में परन्तु वह नीचे उतरने वाले जन्म में मिलता है। सीढ़ी उतरते ही आते हो ना। अभी जो तुम करते हो वह है चढ़ती कला में जाने के लिए। कर्म का फल कहते हैं ना। आत्मा को कर्म का फल मिलता है। इन लक्ष्मी-नारायण को भी कर्मों का ही फल मिला है ना। बेहद के बाप से बेहद का फल मिलता है। वह मिलता है इन-डायरेक्ट। ड्रामा में नूंध है। यह भी बना-बनाया ड्रामा है। तुम जानते हो हम कल्प बाद आकर बाप से बेहद का वर्सा लेंगे। बाप हमारे लिए बैठ स्कूल बनाते हैं। वह गवर्मेन्ट के हैं जिस्मानी स्कूल। जो भिन्न-भिन्न प्रकार से आधा-कल्प पढ़ते आये। अब बाप 21 जन्मों के लिए सब दु:ख दूर करने लिए पढ़ाते हैं। वहाँ तो है राजाई। उसमें नम्बरवार तो आते ही हैं। जैसे यहाँ भी राजा-रानी, वजीर, प्रजा आदि सब नम्बरवार हैं। यह है पुरानी दुनिया में, नई दुनिया में तो बहुत थोड़े होंगे। वहाँ सुख बहुत होगा, तुम विश्व के मालिक बनते हो। राजायें-महाराजायें होकर गये हैं। वह कितनी खुशियाँ मनाते हैं। परन्तु बाप कहते हैं उन्हों को तो फिर नीचे गिरना ही है। गिरते तो सब हैं ना। देवताओं की भी आहिस्ते-आहिस्ते कला उतरती है। परन्तु वहाँ रावणराज्य ही नहीं है इसलिए सुख ही सुख है। यहाँ है रावण राज्य। तुम जैसे चढ़ते हो वैसे गिरते भी हो। आत्मायें भी नाम-रूप धारण करते-करते नीचे उतर आई हैं। ड्रामा प्लैन अनुसार कल्प पहले मुआफिक गिरकर तमोप्रधान बन गये हैं। काम चिता पर चढ़ने से ही दु:ख शुरू होता है। अभी है अति दु:ख। वहाँ फिर अति सुख होगा। तुम राजऋषि हो। उनका है ही हठयोग। तुम कोई से भी पूछो रचता और रचना के आदि-मध्य-अन्त को जानते हो? तो नहीं कह देंगे। पूछेंगे वह जो जानते होंगे। खुद ही नहीं जानता हो तो पूछ कैसे सकते। तुम जानते हो ऋषि-मुनि आदि कोई भी त्रिकालदर्शी नहीं थे। बाप हमको त्रिकालदर्शी बना रहे हैं। यह बाबा जो विश्व का मालिक था, इनको ज्ञान नहीं था। इस जन्म में भी 60 वर्ष तक ज्ञान नहीं था। जब बाप आये हैं तो भी आहिस्ते-आहिस्ते यह सब सुनाते जाते हैं। भल निश्चयबुद्धि हो जाते हैं फिर भी माया बहुतों को गिराती रहती है। नाम नहीं सुना सकते हैं, नहीं तो नाउम्मीद हो जायेंगे। समाचार तो आते हैं ना। संग बुरा लगा, नई शादी किये हुए का संग हुआ, चलायमान हो गया। कहते हैं हम शादी करने बिगर रह नहीं सकते। अच्छा महारथी रोज़ आने वाला, यहाँ से भी कई बार होकर गया है, उसको माया रूपी ग्राह ने आकर पकड़ा है। ऐसे बहुत केस होते रहते हैं। अभी शादी की नहीं है। माया मुंह में डाल हप कर रही है। स्त्री रूपी माया खींचती रहती है। ग्राह (मगरमच्छ) के मुंह में आकर पड़े हैं, फिर आहिस्ते-आहिस्ते हप कर लेगी। कोई गफलत करते हैं या देखने से चलायमान होते हैं। समझते हैं हम ऊपर से एकदम नीचे खड्डे में गिर पडूँगा। कहेंगे बच्चा बहुत अच्छा था। अब बिचारा गया। सगाई हुई यह मरा। बाप तो बच्चों को सदैव लिखते हैं जीते रहो। कहाँ माया का वार ज़ोर से न लग जाए। शास्त्रों में भी यह बातें कुछ हैं ना। अभी की यह बातें बाद में गाई जायेंगी। तो तुम पुरुषार्थ कराते हो। ऐसा न हो कहाँ माया रूपी ग्राह हप कर ले। किस्म-किस्म से माया पकड़ती है। मूल है काम महाशत्रु, इनसे बड़ी सम्भाल करनी है। पतित दुनिया सो पावन दुनिया कैसे बन रही है, तुम देख रहे हो। मूंझने की बात ही नहीं। सिर्फ अपने को आत्मा समझ बाप को याद करने से सब दु:ख दूर हो जाते हैं। बाप ही पतित-पावन है। यह है योगबल। भारत का प्राचीन राजयोग बहुत मशहूर है। समझते हैं क्राइस्ट से 3 हज़ार वर्ष पहले पैराडाइज था। तो जरूर और कोई धर्म नहीं होगा। कितनी सहज बात है। परन्तु समझते नहीं। अभी तुम समझते हो वह राज्य फिर से स्थापन करने के लिए बाप आया है। 5 हज़ार वर्ष पहले भी शिवबाबा आया था। जरूर यही ज्ञान दिया होगा, जैसे अब दे रहे हैं। बाप खुद कहते हैं मैं कल्प-कल्प संगम पर साधारण तन में आकर राजयोग सिखलाता हूँ। तुम राजऋषि हो। पहले नहीं थे। बाबा आया है तब से बाबा के पास रहे हो। पढ़ते भी हो, सर्विस भी करते हो – स्थूल सर्विस और सूक्ष्म सर्विस। भक्ति मार्ग में भी सर्विस करते हैं फिर घरबार भी सम्भालते हैं। बाप कहते हैं अब भक्ति पूरी हुई, ज्ञान शुरू होता है। मैं आता हूँ, ज्ञान से सद्गति देने। तुम्हारी बुद्धि में है हमको बाबा पावन बना रहे हैं। बाप कहते हैं – ड्रामा अनुसार तुमको रास्ता बताने आया हूँ। टीचर पढ़ाते हैं, एम ऑब्जेक्ट सामने हैं। यह है ऊंच ते ऊंच पढ़ाई। जैसे कल्प पहले भी समझाया था, वही समझाते रहते हैं। ड्रामा की टिक-टिक चलती रहती है। सेकेण्ड बाई सेकेण्ड जो बीता सो फिर 5 हज़ार वर्ष बाद रिपीट होगा। दिन बीतते जाते हैं। यह ख्याल और कोई की बुद्धि में नहीं है। सतयुग, त्रेता, द्वापर, कलियुग बीत गया वह रिपीट होगा। बीता भी वही जो कल्प पहले बीता था। बाकी थोड़े दिन हैं। वह लाखों वर्ष कह देते, उनकी भेंट में तुम कहेंगे बाकी कुछ घण्टे हैं। यह भी ड्रामा में नूंध है। जब आग लग जायेगी तब जागेंगे। फिर तो टूलेट हो जाते हैं। तो बाप पुरुषार्थ कराते रहते हैं। तैयार हो बैठो। टीचर को ऐसा न कहना पड़े कि टूलेट, नापास होने वाले बहुत पछताते हैं। समझते हैं हमारा वर्ष मुफ्त में चला जायेगा। कोई तो कहते हैं ना पढ़ा तो क्या हुआ! तुम बच्चों को स्ट्रिक्ट रहना चाहिए। हम तो बाप से पूरा वर्सा लेंगे, अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है। इसमें कोई तकलीफ होती है तो बाप से पूछ सकते हो। यही मुख्य बात है। बाप ने आज से 5 हजार वर्ष पहले भी कहा था – मामेकम् याद करो। पतित-पावन मैं हूँ, सबका बाप मैं हूँ। कृष्ण तो सभी का बाप नहीं है। तुम शिव के, कृष्ण के पुजारियों को यह ज्ञान सुना सकते हो। आत्मा पूज्य नहीं बनी होगी तो तुम कितना भी माथा मारो, समझेंगे नहीं। अभी नास्तिक बनते हैं। शायद आगे चल आस्तिक बन जाएं। समझो शादी कर गिरता है फिर आकर ज्ञान उठाये। परन्तु वर्सा बहुत कम हो जायेगा क्योंकि बुद्धि में दूसरे की याद आकर बैठी। वह निकालने में बड़ा मुश्किल होता है। पहले स्त्री की याद फिर बच्चे की याद आयेगी। बच्चे से भी स्त्री जास्ती खीचेंगी क्योंकि बहुत समय की याद है ना। बच्चा तो पीछे होता है फिर मित्र सम्बन्धी ससुर-घर की याद आती है। पहले स्त्री जिसने बहुत समय साथ दिया है, यह भी ऐसे है। तुम कहेंगे हम देवताओं के साथ बहुत समय थे। ऐसे तो कहेंगे शिवबाबा के साथ बहुत समय से प्यार है। जिसने 5 हज़ार वर्ष पहले भी हमको पावन बनाया। कल्प-कल्प आकर हमारी रक्षा करते हैं तब तो उनको दु:ख हर्ता, सुख कर्ता कहते हैं। तुमको बड़ा लाइन क्लीयर बनना है। बाप कहते हैं इन आंखों से जो तुम देखते हो वह तो कब्रदाखिल हो जाना है। अभी तुम हो संगम पर। अमरलोक आने वाला है। अभी हम पुरुषोत्तम बनने के लिए पुरुषार्थ कर रहे हैं। यह है कल्याणकारी पुरुषोत्तम संगमयुग। दुनिया में देखते रहते हो, क्या-क्या हो रहा है। अब बाप आया हुआ है, तो पुरानी दुनिया भी खत्म होने की है। आगे चल बहुतों को ख्याल में आयेगा। जरूर कोई आया हुआ है जो दुनिया को चेंज कर रहे हैं। यह वही महाभारत लड़ाई है। तुम भी कितने समझदार बने हो। यह बड़ी मंथन करने की बाते हैं। अपना श्वास व्यर्थ नहीं गंवाना है। तुम जानते हो श्वास सफल होते हैं ज्ञान से। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) माया से बचने के लिए संगदोष से अपनी बहुत-बहुत सम्भाल करनी है। अपनी लाइन क्लीयर रखनी है। श्वांस व्यर्थ नहीं गंवाने हैं। ज्ञान से सफल करने हैं।

2) जितना समय मिले – योगबल जमा करने के लिए रूहानी ड्रिल का अभ्यास करना है। अभी कोई नये बंधन नहीं बनाने हैं।

वरदान:- बाप की छत्रछाया के नीचे नाज़ुक परिस्थितियों में भी कमल पुष्प समान न्यारे और प्यारे भव
संगमयुग पर जब बाप सेवाधारी बन करके आते हैं तो छत्रछाया के रूप में बच्चों की सदा सेवा करते हैं। याद करते ही सेकण्ड में साथ का अनुभव होता है। यह याद की छत्रछाया कैसी भी नाज़ुक परिस्थितियों में कमल पुष्प के समान न्यारा और प्यारा बना देती है। मेहनत नहीं लगती। बाप को सामने लाने से, स्व स्थिति में स्थित होने से कैसी भी परिस्थिति परिवर्तन हो जाती है।
स्लोगन:- बातों का पर्दा बीच में आने न दो तो बाप के साथ का अनुभव होता रहेगा।

TODAY MURLI 1 DECEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 1 December 2019

01/12/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
15/03/85

The easy way to become free from hard work is to have the stage of the incorporeal form.

Out of love for the children, BapDada comes into sound from being in the stage of nirvana, beyond sound. What for? In order to give you children the experience of the stage of nirvana, beyond sound, the same as He is in, in order to take you to nirvana, the sweet home. The stage of nirvana is the stage of being free from negative thoughts. The stage of nirvana is the incorporeal stage. Whilst in the incorporeal, the stage of nirvana, you come into sound in corporeal forms. When coming into the corporeal, you have the awareness of the incorporeal form. I, the incorporeal being, am speaking with the support of the corporeal. When you have the incorporeal stage in your awareness whilst in the corporeal form, that is called coming into words and actions from the incorporeal through the corporeal. The original form is incorporeal and the corporeal form is the support. This double awareness of the incorporeal and the corporeal is powerful. Whilst taking the support of the corporeal, do not forget the incorporeal form. It is because you forget this that you have to make effort to remember. In worldly life, you automatically remember your physical form, that you are So-and-so and that you are carrying out that task at that time. The task changes, but your being So-and-so doesn’t change nor do you forget it. In the same way, let the original form that “I am an incorporeal soul” always automatically and constantly be remembered whenever you perform a task. Once you have this awareness and you have the introduction that you are an incorporeal soul – introduction means knowledge – then you know the form with the power of knowledge. How could you forget this after knowing it? With the power of knowledge, you don’t forget the awareness of the body even when you try to forget it. So, how can you then forget this soul-conscious form? So, ask yourself this and practise it. Whilst walking, moving around and carrying out any task, check whether the incorporeal is carrying out the task with the support of the corporeal. You will then automatically have the stage of being free from negative thoughts, the incorporeal stage and the stage that is free from obstacles; you will be liberated from that effort. You find it an effort when you repeatedly forget this. You then have to make effort to remember it. Why do you forget it? Should you forget this? BapDada is asking: Who are you? Are you corporeal or incorporeal? You are incorporeal, are you not? Whilst being incorporeal, why do you forget it? You forget your original form and you remember the support. Are you not amused with yourselves because of what you do? You are now amused, are you not? You forget the real thing and you remember what is false. Sometimes, BapDada is amazed by the children. You forget yourselves and what do you then do? You forget yourselves and then get distressed. You are able to call the Father from the incorporeal into the corporeal because of your love. So, are you not able to remain stable in the incorporeal stage, the same stage as the One you love? BapDada cannot bear to see the children working hard. Master almighty authorities and laboring! You master almighty authorities are the masters of all powers. Whatever power you invoke at any time with a pure thought, that power will become present in front of you masters. Would such a master, whose servers are all the powers, have to work hard or would he order them with pure thoughts? What would he do? You are kings, are you not? Or, are you subjects? Generally, what is a worthy child called? He is called a child-king, is he not? So, who are you? Are you child-kings or children who are dependent? You are souls who have a right, are you not? So, these powers and these virtues are all your servers. Invoke them and they become present in front of you. Because of their weaknesses, those who are powerful are defeated even though they have powerful weapons. Are you weak? You are courageous children, are you not? What would everyone say if the children of the Almighty Authority were weak? Would it look good? So learn how to invoke them and order them. However, whose orders would a servant obey? Those of one who is the master. The master himself becomes a servant. Someone who has to work hard is a servant, is he not? Have you now become free from this hard work of the mind? Physical hard work with your body when serving the yagya is a different matter. That too will not seem like hard work when you understand the importance of service of the yagya. When contact souls come to Madhuban and they see how food is prepared for so many people and, at the same time, everything else is also going on, they wonder how you are able to do such hard work. They are really amazed at how such a big task is being carried out. However, what do those who are doing this consider even this big task to be? Because of the importance of service, all of it seems like a game; it doesn’t seem like hard work. The form of hard work changes because you know this importance and because you love the Father. So the time has now come to become free from hard work of the mind. From the copper age onwards, you worked hard with your mind searching, being desperate and calling out. Because of working hard in your mind, the hard work for earning money also increased. What does anyone you ask today say? Earning money is not like going to your aunty’s home! With your hard work of the mind, you also increased the hard work of earning money and the body became ill. This is why there is hard work in doing anything with the body. There is hard work of the mind and hard work for money. Not just that, but today, there is also hard work in fulfilling the responsibility of love to your family. Sometimes one person sulks, sometimes another person sulks and then you are busy cajoling that person and trying to make it up with him or her. Today, something is yours and tomorrow, that would not be yours, it would be vice versa. So, you got tired working hard for all of those things, did you not? You were tired with your body, with your mind, with wealth and with relationships.

First of all, BapDada finishes the hard work of the mind because the seed is the mind. Hard work of the mind makes you experience working hard through the body and for money. When the mind is not right, then, when it comes to carrying out a task, you would say that you are unable to do it that day. You wouldn’t be ill, but you would feel like you had a fever of 103 degrees. So, hard work of your mind makes you experience hard work through your body. It is the same with money. If your mind is a little unwell, you would say that you have to work a lot, that it is very difficult to earn money or that the atmosphere is bad. However, when your mind is happy, you would say that nothing is a big deal. It is the same work, but the hard work of your mind would also make you experience hard work through your body. Weakness of the mind brings about weakness in the atmosphere. BapDada cannot bear to see the children working hard with their minds. You have worked hard for 63 births. Now, this one birth is a birth of pleasure, it is a birth of love, a birth of attainment, a birth of blessings. It is a birth of taking, of receiving help. So, why is there then hard work even in this birth? Therefore, now transform hard work into love. Finish it by knowing the importance of this.

Today, Bap and Dada were having a lot of chit-chat between themselves about the children’s hard work. Bap and Dada were smiling about what you were doing, about the reason for the hard work of the mind and what you do. You create all types of children, handicapped children, who sometimes don’t even have a face or a leg or an arm. You create a progeny of waste and then, because you have created that creation, what do you do? You have to work hard to sustain it. Because of creating such a creation, you have to work a lot harder and you then get tired and also disheartened. You then find it very difficult. “It is very good, but it is very difficult.” You don’t want to let go and you don’t want to fly. So, what will have to be done? You will have to walk and walking will definitely take effort. So, now stop creating a weak creation and you will be liberated from the hard work of the mind. What amusing things do you then say? The Father is asking why you create such a creation. You say what people say nowadays: What can I do when God gives that? You put all the blame on God. What do you say about this wasteful creation? I didn’t want it, but Maya came. I don’t want it, but it happens. Therefore, become masters, the children of the Almighty Authority. Become kings. “Weak” means dependent subjects. “A master” means a powerful king. So be a master and invoke. Sit on the elevated throne of your original stage. Sit on the throne and invoke the powers, your servers. Order them! It would then not be possible that your servers would not follow your orders. You would not then say, “What can I do? Because of not having the power to tolerate, I have to work hard.” “This happened because I lacked the power to accommodate.” If your servers are not useful to you when you need them, what type of servers are they? What would happen if your servers arrived when the task was over? When you give that importance to time, then, knowing the importance of time, your servers would also be present at the right time. If any power or virtue doesn’t emerge at the right time, it proves that the master doesn’t know the importance of time. So, what should you do? Is it good to sit on the throne or is it good to work hard? There is now no need to give time to this. Do you like working hard or do you like being a master? Which do you prefer? You were told that, for this, simply constantly continue with the one practice: “I, the incorporeal, am carrying out this task with the support of the corporeal.” Become karavanhar and make it happen through your physical organs. If you keep your real, incorporeal form in your awareness, the virtues and powers of the real form will automatically emerge. As is your form, so the virtues and powers of that form automatically start to act. When a kumari becomes a mother, then, in the form of a mother, the virtues and powers, such as serving, renunciation, love and tireless service emerge automatically. So, by remembering your eternal and imperishable form, these virtues and powers will automatically emerge. The form automatically creates the awareness and the stage. Do you understand what you have to do? Finish the word “hard work” in your life. You find something to be difficult because you have to work hard. When hard work finishes, the word “difficult” will also end automatically. Achcha.

To those who constantly make anything difficult easy, to those who change hard work into love, to those who experience their elevated powers and virtues with the awareness of their original form, to those who always give the Father the response of love, to those who become equal to the Father, to those who always sit on the elevated seat of an elevated awareness and as the master carry out a task through their servers, to such child-kings, master-children, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting doubleforeign brothers and sisters personally:

Service enables you to experience the Father’s company. To go on service means to stay constantly in the Father’s company. Whether you remain in the corporeal form or the subtle form, the Father is always with the server children. Karavanhar is making you do it, the One making everyone move is making you move, and what do you do? You become instruments and play the game. You experience this, do you not? You are such servers who claim a right to success, are you not? Success is your birthright. Success constantly gives you the experience of being a great, charitable soul. Those who are to become great charitable souls receive the lift of blessings from everyone. Achcha.

Now, the day will also come when the song will emerge from everyone’s lips, “There is just the One, this is the only One.” Just this part in the drama is still left. As soon as this happens, completion will take place. You now have to bring this part close. To give this experience is the special way to attract. Continue to give them knowledge and give them an experience. They are not content just to listen to knowledge, so whilst they are listening to knowledge, also continue to give them an experience. Then, they would understand the importance of knowledge and, because of their attainment, they would also feel that zeal and enthusiasm. Those people’s lectures are just knowledgefull. Let your lectures not just beknowledgefull, but let them also have the authority of experience. So, while you speak with the authority of experience, continue to give them an experience. For instance, those who are good speakers can make people cry or even laugh when they speak. In silence, they take them into silence. They make the atmosphere of the hall the same as whatever they are speaking about. That is only temporary. Since they are able to do it, then what can you master almighty authorities not achieve? When someone says “peace”, let there be an atmosphere of peace. When someone says “bliss”, let there be an atmosphere of bliss. Lectures that give such an experience will hoist the flag of revelation. They have to see some speciality. Achcha. Time is automatically filling you with powers. It is already accomplished, you just have to repeat it. Achcha.

BapDada meeting Dadi Janki at the time of taking leave

You are happy seeing all of this. The specially beloved children have the most happiness of all, do you not? Those who continue to move along in the waves of the ocean of happiness – the ocean of happiness and the ocean of all attainments – also continue to enable others to move along in the waves of those oceans. What do you do all day long? What do they do with someone who does not know how to bathe in the ocean? They hold his hands and bathe him, do they not? This is the work you do – move along in the waves of happiness, the waves of joy… you continue to do this, do you not? You have found good work to keep yourself busy with. How busy are you? Do you have any time? You are always busy with this. So, when others see you, they also follow you. It is simply remembrance and service and nothing else is visible. Automatically, your intellect goes to remembrance and service and nowhere else. You don’t have to make your intellect work, it works automatically. This is known as someone who has learnt something teaching others. You have been given good work. The Father went away having made you clever, did he not? He didn’t go having made you just so-so. He went, having made you clever and having given you a place. You always have His company, but He has made you an instrument. He made you clever and gave you a seat. The system of giving a seat started here. The Father moved on after having given you the throne of service and the seat of service. Now, He is watching as the detached Observer how the children are moving ahead of all. You have His company and He is also the Observer. He is playing both parts. In the corporeal form, He would be called the detached Observer and in the avyakt form, He would be called the Companion. He is playing both parts. Achcha.

Blessing: May you remain constantly happy and claim blessings by having a balance of remembrance and service in every breath.
Just as you pay attention to keeping your link of remembrance always connected, in the same way, let the link of service too always be connected. Let there be remembrance and service in every breath; this is known as keeping a balance. With this balance, you will constantly continue to experience blessings and the sound will emerge in your heart that you are being sustained with blessings. You will become free from having to work hard or having to battle. You will become free from the questions “What? Why? How?” and will always be happy. You will then experience success in the form of your birthright.
Slogan: In order to claim an award from the Father, you must have with you the certificate of yourself and your companions being free from obstacles.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 1 DECEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 December 2019

01-12-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 15-03-85 मधुबन

मेहनत से छूटने का सहज साधन – निराकारी स्वरूप की स्थिति

बापदादा बच्चों के स्नेह में, वाणी से परे निर्वाण अवस्था से वाणी में आते हैं। किसलिए? बच्चों को आपसमान निर्वाण स्थिति का अनुभव कराने के लिए। निर्वाण स्वीट होम में ले जाने के लिए। निर्वाण स्थिति निर्विकल्प स्थिति है। निर्वाण स्थिति निर्विकारी स्थिति है। निर्वाण स्थिति से निराकारी सो साकार स्वरूपधारी बन वाणी में आते हैं। साकार में आते भी निराकारी स्वरूप की स्मृति, स्मृति में रहती है। मैं निराकार, साकार आधार से बोल रहा हूँ। साकार में भी निराकार स्थिति की स्मृति रहे – इसको कहते हैं निराकार सो साकार द्वारा वाणी में, कर्म में आना। असली स्वरूप निराकार है, साकार आधार है। यह डबल स्मृति निराकार सो साकार शक्तिशाली स्थिति है। साकार का आधार लेते निराकार स्वरूप को भूलो नहीं। भूलते हो इसलिए याद करने की मेहनत करनी पड़ती है। जैसे लौकिक जीवन में अपना शारीरिक स्वरूप स्वत: ही सदा याद रहता है कि मैं फलाना वा फलानी इस समय यह कार्य कर रही हूँ या कर रहा हूँ। कार्य बदलता है लेकिन मैं फलाना हूँ यह नहीं बदलता, न भूलता है। ऐसे मैं निराकार आत्मा हूँ, यह असली स्वरूप कोई भी कार्य करते स्वत: और सदा याद रहना चाहिए। जब एक बार स्मृति आ गई, परिचय भी मिल गया मैं निराकार आत्मा हूँ। परिचय अर्थात् नॉलेज। तो नॉलेज की शक्ति द्वारा स्वरूप को जान लिया। जानने के बाद फिर भूल कैसे सकते? जैसे नॉलेज की शक्ति से शरीर का भान भुलाते भी भूल नहीं सकते। तो यह आत्मिक स्वरूप भूल कैसे सकेंगे। तो यह अपने आपसे पूछो और अभ्यास करो। चलते फिरते कार्य करते चेक करो – निराकार सो साकार आधार से यह कार्य कर रहा हूँ! तो स्वत: ही निर्विकल्प स्थिति, निराकारी स्थिति, निर्विघ्न स्थिति सहज रहेगी। मेहनत से छूट जायेंगे। यह मेहनत तब लगती है जब बार-बार भूलते हो। फिर याद करने की मेहनत करते हो। भूलो ही क्यों, भूलना चाहिए? बापदादा पूछते हैं – आप हो कौन? साकार हो वा निराकार? निराकार हो ना! निराकार होते हुए भूल क्यों जाते हो! असली स्वरूप भूल जाते और आधार याद रहता? स्वयं पर ही हंसी नहीं आती कि यह क्या करते हैं! अब हंसी आती है ना? असली भूल जाते और नकली चीज़ याद आ जाती? बापदादा को कभी-कभी बच्चों पर आश्चर्य भी लगता है। अपने आपको भूल जाते और भूलकर फिर क्या करते? अपने आपको भूल हैरान होते हैं। जैसे बाप को स्नेह से निराकार से साकार में आह्वान कर ला सकते हो तो जिससे स्नेह है उस जैसे निराकार स्थिति में स्थित नहीं हो सकते हो! बापदादा बच्चों की मेहनत देख नहीं सकते हैं! मास्टर सर्वशक्तिवान और मेहनत? मास्टर सर्वशक्तिवान सर्व शक्तियों के मालिक हो। जिस शक्ति को जिस भी समय शुभ संकल्प से आह्वान करो वह शक्ति आप मालिक के आगे हाजिर है। ऐसे मालिक, जिसकी सर्व शक्तियाँ सेवाधारी हैं, वह मेहनत करेगा वा शुभ संकल्प का आर्डर करेगा? क्या करेगा, राजे हो ना कि प्रजा हो? वैसे भी जो योग्य बच्चा होता है उसको क्या कहते हैं? राजा बच्चे कहते हैं ना। तो आप कौन हो? राजा बच्चे हो कि अधीन बच्चे हो? अधिकारी आत्मायें हो ना। तो यह शक्तियाँ, यह गुण यह सब आपके सेवाधारी हैं, आह्वान करो और हाजिर। जो कमजोर होता है वह शक्तिशाली शस्त्र होते हुए भी कमजोरी के कारण हार जाते हैं। आप कमजोर हो क्या? बहादुर बच्चे हो ना! सर्व शक्तिवान के बच्चे कमजोर हों तो सब लोग क्या कहेंगे? अच्छा लगेगा? तो आह्वान करना, आर्डर करना सीखो। लेकिन सेवाधारी आर्डर किसका मानेगा? जो मालिक होगा। मालिक स्वयं सेवाधारी बन गये, मेहनत करने वाले तो सेवाधारी हो गये ना। मन की मेहनत से अब छूट गये! शरीर के मेहनत की यज्ञ सेवा अलग बात है। वह भी यज्ञ सेवा के महत्व को जानने से मेहनत नहीं लगती है। जब मधुबन में सम्पर्क वाली आत्मायें आती हैं और देखती हैं इतनी संख्या की आत्माओं का भोजन बनता है और सब कार्य होता है तो देख-देख कर समझती हैं यह इतना हार्डवर्क कैसे करते हैं! उन्हों को बड़ा आश्चर्य लगता है। इतना बड़ा कार्य कैसे हो रहा है! लेकिन करने वाले ऐसे बड़े कार्य को भी क्या समझते हैं? सेवा के महत्व के कारण यह तो खेल लगता है। मेहनत नहीं लगती। ऐसे महत्व के कारण बाप से मुहब्बत होने के कारण मेहनत का रूप बदल जाता है। ऐसे मन की मेहनत से अब छूटने का समय आ गया है। द्वापर से ढूँढ़ने की, तड़पने की, पुकारने की, मन की मेहनत करते आये हो। मन की मेहनत के कारण धन कमाने की भी मेहनत बढ़ती गई। आज किसे भी पूछो तो क्या कहते हैं? धन कमाना मासी का घर नहीं है। मन की मेहनत से धन के कमाई की भी मेहनत बढ़ा दी और तन तो बन ही गया रोगी, इसलिए तन के कार्य में भी मेहनत, मन की भी मेहनत, धन की भी मेहनत। सिर्फ इतना ही नहीं लेकिन आज परिवार में प्यार निभाने में भी मेहनत है। कभी एक रूसता है, कब दूसरा….फिर उसको मनाने की मेहनत में लगे रहते। आज तेरा है, कल तेरा नहीं फेरा आ जाता है। तो सब प्रकार की मेहनत करके थक गये थे ना। तन से, मन से, धन से, सम्बन्ध से, सबसे थक गये।

बापदादा पहले मन की मेहनत समाप्त कर देते क्योंकि बीज है मन। मन की मेहनत तन की, धन की मेहनत अनुभव कराती है। जब मन ठीक नहीं होगा तो कोई कार्य होगा तो कहेंगे आज यह होता नहीं। बीमार होगा नहीं लेकिन समझेगा मुझे 103 बुखार है। तो मन की मेहनत तन की मेहनत अनुभव कराती है। धन में भी ऐसे ही है। मन थोड़ा भी खराब होगा, कहेंगे बहुत काम करना पड़ता है। कमाना बड़ा मुश्किल है। वायुमण्डल खराब है। और जब मन खुश होगा तो कहेंगे कोई बड़ी बात नहीं। काम वही होगा लेकिन मन की मेहनत धन की मेहनत भी अनुभव कराती है। मन की कमजोरी वायुमण्डल की कमजोरी में लाती है। बापदादा बच्चों के मन की मेहनत नहीं देख सकते। 63 जन्म मेहनत की। अब एक जन्म मौजों का जन्म है, मुहब्बत का जन्म है, प्राप्तियों का जन्म है, वरदानों का जन्म है। मदद लेने का मदद मिलने का जन्म है। फिर भी इस जन्म में भी मेहनत क्यों? तो अब मेहनत को मुहब्बत में परिवर्तन करो। महत्व से खत्म करो।

आज बापदादा आपस में बहुत चिटचैट कर रहे थे, बच्चों की मेहनत पर। क्या करते हैं, बापदादा मुस्करा रहे थे कि मन की मेहनत का कारण क्या बनता है, क्या करते हैं? टेढ़े बाँके, बच्चे पैदा करते, जिसका कभी मुँह नहीं होता, कभी टांग नहीं, कभी बांह नहीं होती। ऐसे व्यर्थ की वंशावली बहुत पैदा करते हैं और फिर जो रचना की तो क्या करेंगे? उसको पालने के कारण मेहनत करनी पड़ती। ऐसी रचना रचने के कारण ज्यादा मेहनत कर थक जाते हैं और दिलशिकस्त भी हो जाते हैं। बहुत मुश्किल लगता है। है अच्छा लेकिन है बड़ा मुश्किल। छोड़ना भी नहीं चाहते और उड़ना भी नहीं चाहते। तो क्या करना पड़ेगा। चलना पड़ेगा। चलने में तो जरूर मेहनत लगेगी ना इसलिए अब कमजोर रचना बन्द करो तो मन की मेहनत से छूट जायेंगें। फिर हँसी की बात क्या कहते हैं? बाप कहते यह रचना क्यों करते, तो जैसे आजकल के लोग कहते हैं ना-क्या करें ईश्वर दे देता है। दोष सारा ईश्वर पर लगाते हैं, ऐसे यह व्यर्थ रचना पर क्या कहते? हम चाहते नहीं हैं लेकिन माया आ जाती है। हमारी चाहना नहीं है लेकिन हो जाता है इसलिए सर्वशक्तिवान बाप के बच्चे मालिक बनो। राजा बनो। कमजोर अर्थात् अधीन प्रजा। मालिक अर्थात् शक्तिशाली राजा। तो आह्वान करो मालिक बन करके। स्वस्थिति के श्रेष्ठ सिंहासन पर बैठो। सिंहासन पर बैठ के शक्ति रूपी सेवाधारियों का आह्वान करो। आर्डर दो। हो नहीं सकता कि आपके सेवाधारी आपके आर्डर पर न चलें। फिर ऐसे नहीं कहेंगे क्या करें सहन शक्ति न होने के कारण मेहनत करनी पड़ती है। समाने की शक्ति कम थी इसलिए ऐसा हुआ। आपके सेवाधारी समय पर कार्य में न आवें तो सेवाधारी क्या हुए? कार्य पूरा हो जाए फिर सेवाधारी आवें तो क्या होगा! जिसको स्वयं समय का महत्व है उसके सेवाधारी भी समय पर महत्व जान हाजिर होंगे। अगर कोई भी शक्ति वा गुण समय पर इमर्ज नहीं होता है तो इससे सिद्ध है कि मालिक को समय का महत्व नहीं है। क्या करना चाहिए? सिंहासन पर बैठना अच्छा या मेहनत करना अच्छा? अभी इसमें समय देने की आवश्यकता नहीं है। मेहनत करना ठीक लगता या मालिक बनना ठीक लगता? क्या अच्छा लगता है? सुनाया ना – इसके लिए सिर्फ यह एक अभ्यास सदा करते रहो – “निराकार सो साकार के आधार से यह कार्य कर रहा हूँ।” करावनहार बन कर्मेन्द्रियों से कराओ। अपने निराकारी वास्तविक स्वरूप को स्मृति में रखेंगे तो वास्तविक स्वरूप के गुण शक्तियाँ स्वत: ही इमर्ज होंगे। जैसा स्वरूप होता है वैसे गुण और शक्तियाँ स्वत: ही कर्म में आते हैं। जैसे कन्या जब मां बन जाती है तो माँ के स्वरूप में सेवा भाव, त्याग, स्नेह, अथक सेवा आदि गुण और शक्तियाँ स्वत: ही इमर्ज होती हैं ना। तो अनादि अविनाशी स्वरूप याद रहने से स्वत: ही यह गुण और शक्तियाँ इमर्ज होंगे। स्वरूप स्मृति स्थिति को स्वत: ही बनाता है। समझा क्या करना है! मेहनत शब्द को जीवन से समाप्त कर दो। मुश्किल मेहनत के कारण लगता है। मेहनत समाप्त तो मुश्किल शब्द भी स्वत: ही समाप्त हो जायेगा। अच्छा!

सदा मुश्किल को सहज करने वाले, मेहनत को मुहब्बत में बदलने वाले, सदा स्व स्वरूप की स्मृति द्वारा श्रेष्ठ शक्तियों और गुणों को अनुभव करने वाले, सदा बाप को स्नेह का रेसपान्ड देने वाले, बाप समान बनने वाले, सदा श्रेष्ठ स्मृति के श्रेष्ठ आसन पर स्थित हो मालिक बन सेवाधारियों द्वारा कार्य कराने वाले, ऐसे राजे बच्चों को, मालिक बच्चों को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

पर्सनल मुलाकात-(विदेशी भाई बहनों से)

1) सेवा बाप के साथ का अनुभव कराती है। सेवा पर जाना माना सदा बाप के साथ रहना। चाहे साकार रूप में रहें, चाहे आकार रूप में। लेकिन सेवाधारी बच्चों के साथ बाप सदा साथ है ही है। करावनहार करा रहा है, चलाने वाला चला रहा है और स्वयं क्या करते हैं? निमित्त बन खेल खेलते रहते हैं। ऐसे ही अनुभव होता है ना? ऐसे सेवाधारी सफलता के अधिकारी बन जाते हैं। सफलता जन्म सिद्ध अधिकार है, सफलता सदा ही महान पुण्यात्मा बनने का अनुभव कराती है। महान पुण्य आत्मा बनने वालों को अनेक आत्माओं के आशीर्वाद की लिफ्ट मिलती है। अच्छा-

अभी तो वह भी दिन आना ही है जब सबके मुख से “एक हैं, एक ही हैं” यह गीत निकलेंगे। बस ड्रामा का यही पार्ट रहा हुआ है। यह हुआ और समाप्ति हुई। अब इस पार्ट को समीप लाना है। इसके लिए अनुभव कराना ही विशेष आकर्षण का साधन है। ज्ञान सुनाते जाओ और अनुभव कराते जाओ। ज्ञान सिर्फ सुनने से सन्तुष्ट नहीं होते लेकिन ज्ञान सुनाते हुए अनुभव भी कराते जाओ तो ज्ञान का भी महत्व है और प्राप्ति के कारण आगे उत्साह में भी आ जाते हैं। उन सबके भाषण तो सिर्फ नॉलेजफुल होते हैं। आप लोगों के भाषण सिर्फ नॉलेजफुल नहीं हों लेकिन अनुभव की अथॉरिटी वाले हों। और अनुभवों की अथॉरिटी से बोलते हुए अनुभव कराते जाओ। जैसे कोई-कोई जो अच्छे स्पीकर होते हैं, वह बोलते हुए रूला भी देते हैं, हँसा भी देते हैं। शान्ति में, साइलेन्स में भी ले जायेंगे। जैसी बात करेंगे वैसा वायुमण्डल हाल का बना देते हैं। वह तो हुए टैप्रेरी। जब वह कर सकते हैं तो आप मास्टर सर्वशक्तिवान क्या नहीं कर सकते। कोई “शान्ति” बोले तो शान्ति का वातावरण हो, आनंद बोले तो आनंद का वातवरण हो। ऐसे अनुभूति कराने वाले भाषण, प्रत्यक्षता का झण्डा लहरायेंगे। कोई तो विशेषता देखेंगे ना। अच्छा – समय स्वत: ही शक्तियाँ भर रहा है। हुआ ही पड़ा है, सिर्फ रिपीट करना है। अच्छा।

विदाई के समय दादी जानकी जी से बापदादा की मुलाकात

देख-देख हर्षित होती रहती हो! सबसे ज्यादा खुशी अनन्य बच्चों को है ना! जो सदा ही खुशियों के सागर में लहराते रहते हैं। सुख के सागर में, सर्व प्राप्तियों के सागर में लहराते ही रहते हैं, वह दूसरों को भी उसी सागर में लहराते हैं। सारा दिन क्या काम करती हो? जैसे कोई को सागर में नहाना नहीं आता है तो क्या करते? हाथ पकड़कर नहलाते हैं ना! यही काम करती हो, सुख में लहराओ, खुशी में लहराओ… ऐसे करती रहती हो ना! बिज़ी रहने का कार्य अच्छा मिल गया है। कितना बिजी रहती हो? फुर्सत है? इसी में सदा बिज़ी हैं, तो दूसरे भी देख फालो करते हैं। बस, याद और सेवा के सिवाए और कुछ दिखाई नहीं देता। आटोमेटिकली बुद्धि याद और सेवा में ही जाती है और कहाँ जा नहीं सकती। चलाना नहीं पड़ता, चलती ही रहती है। इसको कहते हैं सीखे हुए सिखा रहे हैं। अच्छा काम दे दिया है ना। बाप होशियार बनाकर गये हैं ना। ढीलाढाला तो नहीं छोड़कर गये। होशियार बनाकर, जगह देकर गये हैं ना। साथ तो हैं ही लेकिन निमित्त तो बनाया ना। होशियार बनाकर सीट दिया है। यहाँ से ही सीट देने की रस्म शुरू हुई है। बाप सेवा का तख्त वा सेवा की सीट देकर आगे बढ़े, अभी साक्षी होकर देख रहे हैं, कैसे बच्चे आगे से आगे बढ़ रहे हैं। साथ का साथ भी है, साक्षी का साक्षी भी। दोनों ही पार्ट बजा रहे हैं। साकार रूप में साक्षी कहेंगे, अव्यक्त रूप में साथी कहेंगे। दोनों ही पार्ट बजा रहे हैं। अच्छा!

वरदान:- श्वांसों श्वांस याद और सेवा के बैलेन्स द्वारा ब्लैसिंग प्राप्त करने वाले सदा प्रसन्नचित भव
जैसे अटेन्शन रखते हो कि याद का लिंक सदा जुटा रहे वैसे सेवा में भी सदा लिंक जुटा रहे। श्वांसों श्वांस याद और श्वांसों श्वांस सेवा हो – इसको कहते हैं बैलेन्स, इस बैलेन्स से सदा ब्लैसिंग का अनुभव करते रहेंगे और यही आवाज दिल से निकलेगा कि आशीर्वादों से पल रहे हैं। मेहनत से, युद्ध से छूट जायेंगे। क्या, क्यों, कैसे इन प्रश्नों से मुक्त हो सदा प्रसन्नचित रहेंगे। फिर सफलता जन्म सिद्ध अधिकार के रूप में अनुभव होगी।
स्लोगन:- बाप से इनाम लेना है तो स्वयं से और साथियों से निर्विघ्न रहने का सर्टीफिकेट साथ हो।

TODAY MURLI 1 DECEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 1 December 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 November 2018 :- Click Here

01/12/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are gurus, children of the Satguru, who give everyone the mantra for liberation-in-life. You can never tell lies about God.
Question: What is the way to receive liberation-in-life in a second and what is the memorial of that?
Answer: In order to receive liberation-in-life in a second while living at home with your family, become as pure as a lotus. Simply promise to remain pure in this final birth and you will receive liberation-in-life. The example of King Janak is remembered because of this. While living at home with his family, he received liberation-in-life in a second on the basis of making a promise.
Song: This time is passing by. 

Om shanti. The Father comes to give everyone liberation-in-life in a second. There is the praise that the Bestower of Salvation, the Bestower of Liberation-in-Life for All, is One. Why do they speak of liberation-in-life in a second, like in the example of King Janak? His name was Janak, but that same one later becameAnu Janak (one who once again becomes Janak in the future). For Janak, it is said that he received liberation-in-life in a second. However, liberation-in-life would be said to be in the golden and silver ages. Gurus whisper a mantra in your ear; that is also called the mantra that disciplines your mind. All of them give mantras, but you receive the great mantra, the mantra for liberation-in-life. Who gives you this mantra? The Brahma Kumars and Kumaris. Where did they receive this mantra from? From that Satguru. The most elevated One is only the one Father. Then you children become the most elevated. There, they have the most elevated gurus. You are also gurus, the children of the Satguru. Even those who relate the Gita are called gurus; it is numberwise. You too are gurus who speak the truth. You never tell lies about God. First of all, you tell them about purity: Promise the Father that you will never indulge in vice. Not to tell lies is common. Many people continue to tell lies, but it is not like that here. Here, it is a question of purity. While living at home with your family, you promise the Father that you will remain as pure as a lotus in this final birth. Therefore, here, it is a question of remaining pure. They say that this is a very high destination, that it is not possible. You say: Wah! why is it not possible? It is remembered: To live like a lotus. This example is also written in the scriptures. Surely, the Father would have given you such teachings. There are the versions of God and the versions of Brahmins. God doesn’t speak to everyone. It is only the Brahmin children who listen to Him. You have to explain this to everyone. The main thing is purity. You have to become as pure as a lotus, like King Janak. That same Janak then became Anu Janak, just as Radhe becomes Anu Radhe (she becomes Radhe in the future). Someone who is called Narayan would become Anu Narayan in the future. This is accurate. You have to explain to whoever comes here: You have heard about liberation-in-life in a second. It is possible to claim a high status while living at home with your family. We speak from experience, we do not just tell lies. God speaks: Explain the main thing that God is the Father of everyone. He is also definitely the Bestower of Liberation-in-Life. This is the family path. Sannyasis belong to the path of isolation. They can never teach Raja Yoga. They leave their homes and families and run away. They cannot give this knowledge. This is Raja Yoga. While living at home with your families, you have to remain as pure as a lotus. In the golden age, Bharat was the pure family path and it used to be the viceless world. Both men and women are needed for a kingdom. So, you have to explain that you are experienced: While living at home with our families, we are able to stay as pure as a lotus. We know that we will become pure and become the masters of the pure world through the Father. There was the pure family path whereas now it is the impure family path. This world is corrupt whereas that world was elevated. Ravan makes you corrupt and Rama makes you elevated. The kingdom of Ravan continues for half the cycle. The path of devotion exists in the corrupt world. They continue to make donations and perform charity because there is corruption. They believe that they will find God by making more donations and performing charity. They worship God. They say: Come and make us elevated. Bharat was elevated; it isn’t that now. Those who are corrupt then become elevated. No one knows the story of the new creation of Bharat. This can be explained very well using the pictures. You have to make such pictures. There should be an exhibition picture set at every centre. Baba gives you directions So, if you write and say that you don’t have those pictures, Baba will give directions: Make them like this and send them to everyone so that everyone has an exhibition set. These pictures are full of meaning. First of all, it should enter your intellects that you are children of the Father. God is the One who creates heaven. Ravan is the creator of hell. Make an image of the Ravan with ten heads in the picture of the cycle and show the four-armed image on the globe of heaven. You can also write: This is the kingdom of Rama; this is the kingdom of Ravan. At this time, Ravan is omnipresent. There, we won’t be able to say that Rama is omnipresent. It is remembered: Souls remained separated from the Supreme Soul for a long time and the beautiful meeting took place when you found the Satguru in the form of an agent. Therefore, He would definitely come. No one knows this account. It is the deity souls that become separated first. This is the knowledge that you have to explain to everyone. There is the Father of souls. O soul, tell me the occupation of your Father, the Supreme Father, the Supreme Soul. Do you not know it? There cannot be a child who doesn’t know the occupation of his father. The Father sits here and explains: You don’t know your own births. I explain them to you. Those who are the first deities take this many births. So, just calculate how many births those of other religions would take. You have to prove to them that, at the maximum , there are this many births. The tree continues to grow. First of all, there are the deities and they are the ones who are said to have 84 births. This is the knowledge of Bharat. Who gave the knowledge of ancient Bharat? They would not believe that Krishna gave it. God Himself gave it. God, the Father, is k nowledge -full. Neither Brahma nor Krishna can be called knowledge-full. The praise of Krishna is separate. This is very clear knowledgeand it has to be understood. The God of everyone is the one incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul. He is the Creator whereas Krishna is the creation. God, the Highest on High, is One. He cannot be called omnipresent. In Bharat, the President is the highest and then the rest are numberwise. Everyone’s occupation would be told. It isn’t that all of them are the same. You have to prove that each and every soul has received an imperishable part. Discuss this among yourselves and make service plans. However, those whose line s are not clear, who have vices or are trapped in someone’s name and form, will not be able to do this work. A very clear line is required for this. The result will be announced at the end. Now, all are numberwise. People say: God Vyas wrote the scriptures. Vyas cannot be God. In fact, there are only four religious scriptures. The religious scripture of Bharat is just the one Gita, the mother and father of all scriptures. Only through that do you receive the inheritance. You receive the inheritance from the Father through the mother. The Father of the Mother Gita is the Creator. So, the Father gives the ancient knowledge of easy Raja Yoga through the Gita. The Gita is the scripture of the land of Bharat. Then those of Islam have their own religious scripture, the Buddhists have their own religious scripture and the Christians have their own religious scripture. The Gita is the mother and father of all, and all the rest of the scriptures are its children; they emerged later. To which religion do all the Vedas and Upanishads etc. belong? You should know who spoke them and which religion emerged from them. There is no religion.First of all, prove that the Gita has been falsified. Instead of the Father’s name, they have mentioned the name of the child. The life story of each is different. The Father says: Renounce all bodily religions and constantly remember Me alone. God speaks to souls: Become bodiless and remember Me. Only the bodiless Father can say this. Sannyasis cannot say this. These words are from the Gita. He speaks to those of all religions: May you be bodiless! The play is now coming to an end. Everyone receives the mantra: Renounce your body and all bodily relations and constantly remember Me alone and you will come to Me. After liberation, there is definitely liberation-in-life. The status you receive is liberation-in-life via liberation. Whoever comes here passes through the sato, rajo and tamo stages. The explanation is so good! However, children hear through one ear and let it out through the other. Otherwise, it is very easy. You can have exhibitions in many places. So, also have it printed in the newspapers. You can spend some money on this; let everyone hear about it. You definitely have to print it in the newspapers. You children should have a lot of intoxication. However, very little time remains. Ask the gopes and gopis about the feeling of supersensuous joy. It is remembered: These are the gopes and gopis of Gopi Vallabh. Gopes and gopis neither exist in the golden age nor in the iron age. There, there are the goddesses Lakshmi and Radhe. Gopes and gopis exist now; they are the grandsons and granddaughters of Gopi Vallabh. Surely, there must also be the Grandfather. The grandfather, Baba and Mama, are the new creation at the confluence age. The Father says: I come at the confluence of every cycle to create the new world. From devilish children, you have become Godly children and you will then become deity children. You will then become warrior children, then merchant and shudra children in your 84 births. Expansion continues to take place at the same time. The tree also has to become complete. Annihilation doesn’t ever take place. Bharat is the imperishable land. Bharat has to be praised a lot. Bharat is the most elevated land of all lands; it is never destroyed. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Night class: 16/ 0 4/68

No one, apart from you Brahmin children, knows when it is the confluence age. There is a lot of praise of the confluence age of the cycle. The Father comes and teaches you Raja Yoga. Surely, the confluence age has to come before the golden age. There are human beings here; some are the lowest and some are the highest. People sing praise in front of them (deities): You are the most elevated human beings and we are the lowest. They say of themselves: I am like this and like that. No one, apart from you Brahmins, knows this most auspicious confluence age. How can we advertise it so that people can know about it? God Himself comes at the confluence age and teaches us Raja Yoga. You know that you are studying Raja Yoga. Now, what method should we create so that people can know about it? However, this will happen gradually. There is still time now. A lot of time has gone by and a short time remains. We say this so that people make effort quickly. Actually, knowledge is received in a second through which you receive liberation-in-life in a second at that time. However, you have the sins of half the cycle on your heads and they will not be cut away in a second ; that takes time. People think: There is still time; why should we go to the Brahma Kumaris now? They take things wrongly from the literature. If it is not in their fortune, they take it wrongly. You understand that this is the age to become the most elevated human beings. There is the praise of becoming like a diamond. Then that decreases: the golden age, thenthe silver age. This confluence age is the diamond age. Satyug is the golden age. You know that this confluence age is even better than heaven; this birth is like a diamond. There is praise of the land of immortality. It then continues to decrease. So, you can also write: The most auspicious confluence age is a diamond, satyug is gold , and treta (silver age) is silver. You can explain that it is only at the confluence age that you become deities from human beings. They make a rosary of eight jewels and place a diamond in the middle. There is the show of the confluence age. The confluence age is like a diamond. There is the value of a diamond at the confluence age. You are taught yoga etc. and this is called spiritual yoga. However, only the Father is spiritual. Only at the confluence age do you find the spiritual Father and receive spiritual knowledge. How would human beings who have so much arrogance accept this that quickly? This is explained to poor people. So you also have to write: The confluence age is the diamond age and its duration is this much. Satyug is the golden age and this is its duration. They have shown the swastika in the scriptures. So, when you children remember this, you will have so much happiness. Students do have happiness, do they not? Student life is the best life. This is your source of income. This is the school for changing from human beings into deities. The deities were the masters of the world. You now know this. So there should be limitless happiness. This is why there is the praise: If you want to know about supersensuous joy, ask the gopes and gopis of Gopi Vallabh. The Teacher teaches you till the end and so you should remember Him till the end. God is teaching you and then God will take you back with Him. People call out: LiberatorGuide , liberate us from sorrow! There is no sorrow in the golden age. They say: There should be peace in the world. Ask them: When was there peace previously? What age was that? No one knows about that. The kingdom of Rama is the golden age and the kingdom of Ravan is the iron age. You know this, do you not? Children should relate their experiences. What things of the heart can I share? I have found the unlimited Father who gives the unlimited sovereignty, and so what other experience can I share? There isn’t anything else at all! There is no other happiness like this. No one should ever sulk with anyone and just stay at home. That would be like sulking with your fortune. If you sulk with your study, what will you learn? The Father has to teach you through Brahma. So, you should not sulk with one another. That is Maya. There are obstacles created by devils in the sacrificial fire. Achcha.

To the sweetest spiritual children, love, remembrance and good night from spiritual Bap and Dada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t simply listen through one ear to whatever the Father tells you and then let it out through the other. Have the intoxication of knowledge and experience supersensuous joy.
  2. Tell everyone this great mantra in order to give them the right to liberation and liberation-in-life in a second: “Renounce your body and all bodily relations and remember the one Father.”
Blessing: May you become equal and claim the first grade by following Father Brahma.
All the children have a lot of love for Father Brahma and the sign of love is to become equal. For this, always have the aim of being first. Do not be first out of jealousy because that is harmful. However, if you say it and then become the first in following the Father in practice, then being with the first, you will also become first. Just as Father Brahma became number one, similarly let all those who follow him also have the aim of becoming number one. Those who take the initiative are number one Arjuna and everyone has that chance to come first. The first grade is unlimited, it is not of just a few.
Slogan: In order to become an embodiment of success, serve yourself and others simultaneously.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 1 DECEMBER 2018 : AAJ KI MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 December 2018

To Read Murli 30 November 2018 :- Click Here
01-12-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – तुम सबको जीवनमुक्ति का मंत्र देने वाले सतगुरू के बच्चे गुरू हो, तुम ईश्वर के बारे में कभी भी झूठ नहीं बोल सकते”
प्रश्नः- सेकेण्ड में जीवनमुक्ति प्राप्त करने की विधि और उसका गायन क्या है?
उत्तर:- सेकेण्ड में जीवनमुक्ति प्राप्त करने के लिए प्रवृत्ति में रहते कमल फूल समान पवित्र बनो। सिर्फ इस अन्तिम जन्म में पवित्रता की प्रतिज्ञा करो तो जीवनमुक्ति मिल जायेगी। इस पर ही राजा जनक का मिसाल गाया हुआ है कि गृहस्थ व्यवहार में रहते एक सेकेण्ड में प्रतिज्ञा के आधार पर जीवनमुक्ति प्राप्त की।
गीत:- यह वक्त जा रहा है…….. 

ओम् शान्ति। बाप आते हैं सबको सेकेण्ड में जीवनमुक्ति देने। गायन भी है सबका सद्गति दाता, जीवन-मुक्ति दाता एक है। एक सेकेण्ड में जीवनमुक्ति क्यों कहते हैं? जैसे राजा जनक का मिसाल है। उनका नाम जनक था परन्तु भविष्य में वही अनुजनक बनता है। जनक के लिए कहते हैं कि उन्हें एक सेकेण्ड में जीवनमुक्ति मिली, लेकिन जीवनमुक्ति तो सतयुग-त्रेता में कहेंगे। गुरू लोग कान में मंत्र देते हैं, उसे वशीकरण मंत्र भी कहते हैं। वे तो सब मंत्र देते हैं लेकिन तुम्हें मिलता है महामंत्र, जीवनमुक्ति का मंत्र। यह मंत्र कौन देते हैं? ब्रह्माकुमार-ब्रह्माकुमारियां। उन्हें यह मंत्र कहाँ से मिला? उस सतगुरू से। सर्वोत्तम तो एक ही बाप है। फिर तुम बच्चे सर्वोत्तम बनते हो। उनमें सर्वोत्तम गुरू होते हैं। तुम भी सतगुरू के बच्चे गुरू हो। गीता सुनाने वाले को भी गुरू कहा जाता है। नम्बरवार तो होते ही हैं। तुम भी सत बोलने वाले गुरू हो। तुम कभी ईश्वर के बारे में झूठ नहीं बोलते हो। पहले-पहले तो तुम पवित्रता के ऊपर ही समझाते हो कि बाप से प्रतिज्ञा करो हम कभी भी विकार में नहीं जायेंगे। झूठ आदि न बोलना यह तो कॉमन बात है। झूठ तो बहुतों से निकलती रहती है। पर यहाँ वह बात नहीं है। यहाँ है पवित्रता की बात। गृहस्थ व्यवहार में रहते इस अन्तिम जन्म में हम बाप से प्रतिज्ञा करते हैं कि हम कमल पुष्प समान पवित्र रहेंगे। तो यहाँ पवित्र रहने की बात है। कहेंगे यह तो बहुत ऊंच मंज़िल है। यह तो हो नहीं सकता। तुम कहेंगे वाह, क्यों नहीं हो सकता। यह तो गाया हुआ है कमल फूल समान…… यह दृष्टान्त शास्त्रों में लिखा हुआ है। जरूर बाप ने ही ऐसी शिक्षा दी है। है भी भगवानुवाच या ब्राह्मणों वाच। भगवान् सबको नहीं सुनाते हैं। ब्राह्मण बच्चे ही सुनते हैं। यह बात तुम्हें सबको समझानी है। मूल बात है पवित्रता की। कमल फूल समान पवित्र बनना है, जनक मिसल। वही जनक फिर अनुजनक बना। जैसे राधे अनुराधे बनती है। कोई का नाम नारायण है तो भविष्य में अनु नारायण बनता है। यह एक्यूरेट बात है। तो जो भी आते हैं उनको समझाना पड़े। सुना तो है सेकेण्ड में जीवनमुक्ति। गृहस्थ व्यवहार में रहते ऊंच पद पाया जा सकता है। हम अनुभव से कहते हैं, गपोड़ा नहीं मारते हैं। भगवानुवाच – मुख्य बात समझानी है – भगवान् सबका बाप है। जरूर जीवनमुक्ति दाता भी वही है। यह है प्रवृत्ति मार्ग। सन्यासियों का तो है ही निवृति मार्ग। वह कभी राजयोग सिखला नहीं सकते। वह तो घरबार छोड़ भागने वाले हैं। वो यह ज्ञान दे नहीं सकते, यह है राजयोग। गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान पवित्र रहना है। सतयुग में भारत पवित्र प्रवृत्ति मार्ग था, वाइसलेस दुनिया थी। राजाई में स्त्री-पुरुष दोनों चाहिए। तो समझाना पड़ता है – हम अनुभवी हैं। गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान पवित्र रह सकते हैं। हम जानते हैं कि पवित्र बन बाप द्वारा पवित्र दुनिया के मालिक बनते हैं। पवित्र प्रवृत्ति मार्ग था, अब तो अपवित्र प्रवृत्ति मार्ग है। यह दुनिया ही भ्रष्टाचारी है। वह श्रेष्ठाचारी दुनिया थी। रावण भ्रष्टाचारी बनाते हैं, राम श्रेष्ठाचारी बनाते हैं। आधाकल्प रावण राज्य चलता है। भ्रष्टाचारी दुनिया में भक्ति मार्ग है। दान-पुण्य आदि करते रहते हैं क्योंकि भ्रष्टाचार है। समझते हैं मनुष्य जितना भक्ति, दान-पुण्य करेंगे तो फिर भगवान् मिलेगा। भगवान् की भक्ति करते हैं। कहते हैं कि आकर हमको श्रेष्ठ बनाओ। भारत श्रेष्ठाचारी था। अभी नहीं है।

भ्रष्टाचारी ही श्रेष्ठाचारी बनते हैं। भारत की नई रचना की कहानी कोई जानते ही नहीं। चित्रों के द्वारा अच्छी तरह समझाया जा सकता है। ऐसे-ऐसे चित्र बनाने पड़ेंगे। हरेक सेन्टर पर प्रदर्शनी के चित्र होने चाहिए। बाबा डायरेक्शन देते हैं भल लिख दें कि चित्र हमारे पास नहीं हैं, तो बाबा डायरेक्शन देंगे यह बनाओ फिर सबको भेजो तो सबके पास प्रदर्शनी हो जायेगी। यह चित्र बहुत अर्थ सहित हैं। पहले-पहले यह बुद्धि में आना चाहिए कि हम बाप के बच्चे हैं। भगवान् है स्वर्ग रचने वाला। नर्क का रचयिता है रावण। गोले के ऊपर 10 सिर वाले रावण का चित्र बना दो। स्वर्ग के गोले पर चतुर्भुज। लिख भी सकते हैं – यह रामराज्य, यह रावण राज्य। इस समय रावण सर्वव्यापी है। वहाँ हम राम सर्वव्यापी तो नहीं कह सकेंगे। गाया भी जाता है – आत्मा-परमात्मा अलग रहे बहुकाल फिर सुन्दर मेला कर दिया जब सतगुरू मिला दलाल। तो जरूर वह आयेगा ना। यह हिसाब कोई भी जानते नहीं हैं। पहले-पहले अलग हुई हैं देवी-देवताओं की आत्मायें। यह नॉलेज है, कोई को भी समझाना है। आत्माओं का बाप तो है ना। अब हे आत्मा, अपने परमपिता परमात्मा का आक्यूपेशन बताओ? क्या नहीं जानती हो? ऐसा बच्चा तो होता नहीं जो बाप के आक्यूपेशन को नहीं जानता हो। बाप बैठ समझाते हैं तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो, मैं समझाता हूँ। पहले-पहले जो देवी-देवता हैं वह इतने जन्म लेते हैं। तो हिसाब करो – दूसरे धर्म वाले कितने जन्म लेते होंगे? सिद्ध कर बताना पड़े – मैक्सीमम इतने हैं। झाड़ वृद्धि को पाता रहता है। पहले-पहले देवी-देवता थे। उन्हों के ही 84 जन्म कहे जाते हैं। भारत की नॉलेज है ना। प्राचीन भारत की नॉलेज किसने दी? कृष्ण को नहीं मानेंगे। यह भगवान् ने ही दी है। नॉलेजफुल गॉड फादर है ना। ब्रह्मा को भी नॉलेजफुल नहीं कहेंगे, कृष्ण को भी नहीं कहेंगे। कृष्ण की महिमा ही अलग है। यह समझने की बड़ी ही क्लीयर नॉलेज है। भगवान् तो सबका एक ही निराकार परमपिता परमात्मा है। वह है रचयिता। कृष्ण तो है रचना। ऊंच ते ऊंच भगवान् तो एक है ना। सर्वव्यापी उनको कह नहीं सकते। भारत में ऊंच ते ऊंच प्रेजीडेंट फिर नम्बरवार और हैं। सबका आक्यूपेशन बतायेंगे। ऐसे तो नहीं, सब एक ही हैं। हरेक आत्मा को अविनाशी पार्ट मिला हुआ है – यह सिद्ध करना है। आपस में राय कर सर्विस के प्लैन बनाने हैं। परन्तु जिसकी लाइन क्लीयर नहीं होगी, कोई विकार होगा वा नाम-रूप में फंसा होगा तो यह काम हो नहीं सकेगा। इसमें लाइन बड़ी क्लीयर चाहिए। रिजल्ट तो अन्त में ही निकलेगी। अभी सभी नम्बरवार हैं। मनुष्य कहते हैं यह व्यास भगवान् ने शास्त्र बनाये, अब व्यास तो भगवान् हो नहीं सकता। वास्तव में धर्म के शास्त्र हैं ही 4 । भारत का धर्म शास्त्र तो है ही एक माई बाप गीता। वर्सा उनसे ही मिलता है। माँ द्वारा बाप से वर्सा मिलता है। गीता माता का बाप है रचता। तो गीता द्वारा ही बाप ने प्राचीन सहज राजयोग की नॉलेज दी है। गीता तो भारतखण्ड का शास्त्र है। फिर इस्लामी का धर्म शास्त्र अपना है, बुद्ध का अपना है, क्रिश्चियन का अपना है। गीता तो है सबका माई बाप, बाकी शास्त्र हैं बाल बच्चे। वह बाद में निकले हैं। बाकी इतने वेद-उपनिषद आदि यह सब किस धर्म के हैं? यह मालूम तो होना चाहिए कि यह किसने उच्चारे? उससे कौन-सा धर्म निकला? कोई धर्म तो है नहीं। पहले तो सिद्ध करना है कि गीता खण्डन की हुई है। बाप के बदले बच्चे का नाम दे दिया है। जीवन चरित्र तो सबका अलग-अलग है। बाप कहते हैं सर्व धर्मानि परित्यज…….. मामेकम् याद करो। परमात्मा आत्माओं को कहते हैं – तुम अशरीरी बनो, मेरे को याद करो। अशरीरी बाप ही यह कह सकते हैं। सन्यासी तो कह नहीं सकते। यह गीता के अक्षर हैं। सब धर्म वालों को कहते हैं – अशरीरी भव। अभी नाटक पूरा होता है। सबको मंत्र मिलता है कि देह सहित देह के सब सम्बन्ध त्याग मामेकम् याद करो तो तुम मेरे पास आ जायेंगे। मुक्ति के बाद जीवनमुक्ति है जरूर। पद जीवनमुक्ति का है वाया मुक्ति। जो भी आते हैं सतो, रजो, तमो से पास करते हैं। समझानी कितनी अच्छी है। परन्तु बच्चे एक कान से सुन दूसरे कान से निकाल देते हैं। वैसे है बहुत सहज।

तुम जगह-जगह पर प्रदर्शनी करो, अखबारों में भी पड़ जाए। खर्चा कर सकते हो। भल सब सुनें। अखबार में तो जरूर डालना है। बच्चों को बड़ा नशा रहना चाहिए। बाकी टाइम बहुत थोड़ा बचा है। अतीन्द्रिय सुख की भासना गोप-गोपियों से पूछो। गाया हुआ है – यह गोपी वल्लभ के गोप-गोपियाँ हैं। गोप-गोपियाँ न सतयुग में, न कलियुग में होते हैं। वहाँ लक्ष्मी देवी, राधे देवी हैं। गोप-गोपियां अभी हैं, गोपी वल्लभ के बच्चे पोत्रे-पोत्रियां हैं। जरूर दादा भी होगा। दादा, बाबा और मम्मा – यह नई रचना हुई है संगम पर। बाप कहते हैं मैं कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुगे आता हूँ नई दुनिया बनाने। आसुरी सन्तान से तुम ईश्वरीय सन्तान बने हो फिर बनेंगे दैवी सन्तान। फिर क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र सन्तान बनेंगे – 84 जन्मों में। फिर साथ-साथ वृद्धि भी होती रहती है। झाड़ भी पूरा कम्पलीट चाहिए। प्रलय भी नहीं होती है। भारत तो अविनाशी खण्ड है। भारत की बहुत महिमा करनी है। भारत सब खण्डों में श्रेष्ठ है। विनाश कभी नहीं होता। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

रात्रि-क्लास 16-4-68

तुम ब्राह्मण बच्चों बिगर किसको भी यह पता नहीं है कि संगम युग कब होता है। इस कल्प के संगम युग की महिमा बहुत है। बाप आकर राजयोग सिखलाते हैं। सतयुग के लिये तो जरूर संगमयुग ही आयेगा। हैं भी मनुष्य। उनमें कोई कनिष्ट, कोई उत्तम हैं। उनके आगे महिमा गाते हैं आप पुरुषोत्तम हो, हम कनिष्ट हैं। आपेही बताते हैं – मैं ऐसे हूँ, ऐसे हूँ।

अभी इस पुरुषोत्तम संगम युग को तुम ब्राह्मण बिगर कोई भी नहीं जानते। इनकी एडवरटाईज कैसे करें जो मनुष्यों को पता पड़े। संगमयुग पर भगवान ही आकर राजयोग सिखलाते हैं। तुम जानते हो हम राजयोग सीख रहे हैं। अभी ऐसी क्या युक्ति रचें जो मनुष्यों को मालूम पड़े। परन्तु होगा धीरे। अभी समय पड़ा है। बहुत गई थोड़ी रही……। हम कहते हैं तो मनुष्य जल्दी पुरुषार्थ करें। नहीं तो ज्ञान सेकण्ड में मिलता है, जिससे तुम उसी समय सेकण्ड में जीवनमुक्ति पा लेंगे। परन्तु तुम्हारे सिर पर आधा कल्प के पाप हैं, वह थोड़ेही सेकण्ड में कटेंगे। इसमें तो टाइम लगता है। मनुष्य समझते हैं अभी तो समय पड़ा है, अभी हम ब्रह्माकुमारियों पास क्यों जायें। लिटरेचर से उल्टा भी उठा लेते हैं। तकदीर में नहीं है तो उल्टा उठा लेते हैं। तुम समझते हो यह पुरुषोत्तम बनने का युग है। हीरे जैसा गायन है ना। फिर कम हो जाता है। गोल्डन एज, सिल्वर एज। यह संगम युग है डायमण्ड एज। सतयुग है गोल्डन एज। यह तुम जानते हो स्वर्ग से भी यह संगम अच्छा है, हीरे जैसा जन्म है। अमरलोक का गायन है ना। फिर कम होता जाता है। तो यह भी लिख सकते हो पुरुषोत्तम संगम युग है डायमण्ड, सतयुग है गोल्ड, त्रेता है सिलवर…..। यह भी तुम समझा सकते हो – संगम पर ही हम मनुष्य से देवता बनते हैं। आठ रत्न बनाते हैं ना। तो डायमण्ड को बीच में रखा जाता है। संगम का शो होता है। संगम युग है ही हीरे जैसा। हीरे का मान संगम युग पर है। योग आदि सिखलाते हैं, जिसको प्रीचुअल योग कहते हैं। परन्तु प्रीचुअल तो फादर ही है। रूहानी फादर और रूहानी नॉलेज संगम पर ही मिलती है। मनुष्य जिनमें देह-अहंकार है, वह इतना जल्दी कैसे मानेंगे। गरीब आदि को समझाया जाता है। तो यह भी लिखना है संगमयुग इज़ डायमण्ड। उनकी आयु इतनी। सतयुग गोल्डन एज तो उनकी आयु इतनी। शास्त्रों में भी स्वास्तिका निकालते हैं। तो तुम बच्चों को भी यह याद रहे तो कितनी खुशी रहे! स्टूडेन्ट्स को खुशी होती है ना। स्टूडेन्ट लाइफ इज़ दी बेस्ट लाइफ। यह तो सोर्स आफ इनकम है। यह है मनुष्य से देवता बनने की पाठशाला। देवतायें तो विश्व के मालिक थे। यह भी तुमको मालूम है। तो अथाह खुशी होनी चाहिए, इसलिये गायन है अतीन्द्रिय सुख गोपी वल्लभ के गोप गोपियों से पूछो। टीचर अन्त तक पढ़ाते हैं तो उनको अन्त तक याद करना चाहिए। भगवान पढ़ाते हैं और फिर भगवान साथ भी ले जायेंगे। पुकारते भी हैं लिबरेटर गाईड। दु:ख से छुड़ाओ। सतयुग में दु:ख होता ही नहीं। कहते हैं विश्व में शान्ति हो। बोलो आगे कब थी? वह कौन सा युग था? किसको पता नहीं है। राम राज्य सतयुग, रावण राज्य कलियुग। यह तो जानते हो ना। बच्चों को अनुभव सुनाना चाहिए। बस क्या सुनाऊं दिल की बात। बेहद का बाप बेहद की बादशाही देने वाला मिला और क्या अनुभव सुनाऊं। और कोई बात ही नहीं। इस जैसी खुशी और कोई होती ही नहीं। कोई को भी किसी से रूठकर वास्तव में घर में नहीं बैठना चहिए। यह जैसे अपनी तकदीर से रूठना है। पढ़ाई से रूठा तो क्या सीखेंगे। बाप को पढ़ाना ही है – ब्रह्मा द्वारा। तो एक दो से कभी रूठना नहीं चाहिए। यह है माया। यज्ञ में असुरों के विघ्न तो पड़ते हैं ना। अच्छा!

मीठे-मीठे रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बाप व दादा का याद प्यार गुडनाईट। रूहानी बच्चों को रूहानी बाप की नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप जो सुनाते हैं वह एक कान से सुन दूसरे से निकालना नहीं है। ज्ञान के नशे में रह अतीन्द्रिय सुख का अनुभव करना है।

2) सभी को सेकेण्ड में मुक्ति-जीवनमुक्ति का अधिकार देने के लिए यही महामंत्र सुनाना है कि ”देह सहित देह के सब सम्बन्धों को त्याग बाप को याद करो।”

वरदान:- ब्रह्मा बाप को फालो कर फर्स्ट ग्रेड में आने वाले समान भव
सभी बच्चों का ब्रह्मा बाप से बहुत प्यार है, प्यार की निशानी है समान बनना। इसमें सदा यही लक्ष्य रखो कि पहले मैं, ईर्ष्या वश पहले मैं नहीं, वह नुकसान करता है। लेकिन फालो फादर करने में पहले मैं कहा और किया तो फर्स्ट के साथ में आप भी फर्स्ट हो जायेंगे। जैसे ब्रह्मा बाप नम्बरवन बनें ऐसे फालो करने वाले भी नम्बरवन का लक्ष्य रखो। ओटे सो अव्वल अर्जुन, सबको फर्स्ट में आने का चांस है। फर्स्ट ग्रेड बेहद में है कम नहीं।
स्लोगन:- सफलतामूर्त बनना है तो स्व सेवा और औरों की सेवा साथ-साथ करो।
Font Resize