1 august ki murli

TODAY MURLI 1 AUGUST 2020 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 1 August 2020

01/08/20
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have to make your stage karmateet by studying. As well as that you also have to show others the way to become pure from impure. Therefore, do spiritual service.
Question: By remembering which mantra can you prevent yourself from performing sinful acts?
Answer: The Father has given you the mantra: Hear no evil! See no evil!Speak no evil! Remember this mantra. You must not perform any sinful acts through your physical organs. Everyone in the iron age commits sin. This is why Baba shows you the way to imbibe the virtue of purity. This is the number one virtue.

Om shanti. In front of whom are you children sitting? It must surely be in your intellects that you are sitting in front of the Purifier, the Bestower of Salvation for All, our unlimited Father. Although that Father is in the body of Brahma, you still have to remember Him. Human beings cannot grant salvation to anyone. No human being can be called the Purifier. You children have to consider yourselves to be souls. He is the Father of all of us souls. That Father is making us into the masters of heaven. You children should know this and so you should experience happiness. You children also know that, from being residents of hell, you are becoming residents of heaven. You are being shown a very easy way. You simply have to remember Him and also inculcate divine virtues into yourselves. You have to examine yourselves. There is the example of Narad. The Father, the Ocean of Knowledge, gave all of those examples. All the examples that the sannyasis etc. give were originally given by the Father. People on the path of devotion simply continue to sing. Although they give examples of the tortoise, the snake, the buzzing moth etc., they are not able to do anything themselves. On the path of devotion, they simply repeat the examples that the Father gives now. The path of devotion is of the past. Whatever happens in a practical way at this time is later remembered on the path of devotion. Although they celebrate the birthday of the deities and of God, they don’t know anything. You are now beginning to understand everything. You take teachings from the Father to become pure from impure and you also show others the way to become pure from impure. This is your main spiritual service. First of all, give anyone who comes to you the knowledge of souls: You are a soul. No one knows about souls. Souls are imperishable. At the right time, a soul enters a body. Therefore, you repeatedly have to consider yourselves to be souls. The Father of us souls is the Supreme Father, the Supreme Soul. He is also the Supreme Teacher. You children have to remember this at every moment. You should not forget this. You now understand that you have to return home. Destruction is standing ahead of you. In the golden age the deity family is very small. In the iron age there are many human beings; there are innumerable religions and innumerable opinions. None of these things exists in the golden age. You children should keep these matters in your intellects throughout the day. This is a study, is it not? In worldly studies they have so many books etc. They have to buy new books for each class. Here, there is no question of books or scriptures etc. Here, there is just one thing, just one study. When the British Government used to be here, it was a kingdom of kings so they didn’t use photos of anyone, but the king or queen, on the stamps. Nowadays, they continue to make stamps of even devotees etc. who have been and gone. When it is the kingdom of Lakshmi and Narayan, there will just be the picture of one emperor and empress. It isn’t that the pictures of the deities who existed in the past have all been destroyed; no. People have great interest in buying old pictures of the ancient deities because the deities are next to Shiv Baba. You children have to imbibe all of these things in order to show others the path. This is a completely new study. You heard this previously and claimed a status. No one else knows this. The Supreme Father, the Supreme Soul, is teaching you Raj Yoga. The Mahabharat War is very well known. We shall see what happens as we progress further. Some say one thing and others say something else. Day by day, human beings will continue to be touched by this. They even say that there is going to be a world war. Before it takes place, you children have to reach your karmateet stage through this study. However, there isn’t a war between the devils and the deities. At this time you are the Brahmin community and you then become the deity community. This is why you are imbibing divine virtues in this birth. The number one divine virtue is purity. You have been committing so much sin through your bodies. It is the souls that are said to be sinful souls. Souls commit so much sin through their physical senses. Who is told, “Hear no evil“? Souls. It is souls that hear through the ears. The Father has reminded you children: You used to belong to the original eternal deity religion, you went around the cycle and you now have to belong to it again. When these sweet memories emerge, the soul has the courage to become pure. It is in your intellects how you have played your parts of 84 births: This is what you were in the beginning – this is a story. It should enter your intellects that 5000 years ago we were deities. We souls are residents of the incorporeal world. Previously, we didn’t have the slightest thought about that being the home of us souls and that we came from there to play our parts, that we became part of the sun dynasty and then the moon dynasty. You are now the Brahmin dynasty, the children of Brahma. You have become the children of God. God sits here and gives you teachings. That Supreme Father is also the Supreme Teacher and the Supreme Guru. By following His directions, we are making all human beings elevated. Liberation and liberation-in-life are both elevated. We will go to our home, then come down as pure souls and rule. This is a cycle. This is called the discus of self-realisation. This is an aspect of knowledge. The Father says: Your discus of self-realisation should not stop. By spinning it continuously, your sins will be absolved and you will conquer Ravan; your sins will be erased. You now have awareness of all of this. Therefore, you can think about it. It isn’t that you have to sit and turn the beads of a rosary. You souls have this knowledge inside you. Therefore, you children have to explain it to other brothers and sisters. Children will also become helpers, will they not? I make you children into spinners of the discus of self-realisation. I have this knowledge, which is why I am called the Ocean of Knowledge, the Seed of the Human World Tree. He is also called the Master of the Garden. Shiv Baba has sown the seed of the deity religion. You are now becoming deities. Even if you only continue to remember this much throughout the day, you can experience a great deal of benefit. You have to imbibe divine virtues. You also have to become pure. Husband and wife live together and yet remain pure. There is no other religion like this. On the path of isolation, only the men remain pure. They say: It is difficult for husband and wife to live together and remain pure. However, everyone was like this in the golden age, were they not? People sing the praise of Lakshmi and Narayan. You now understand that Baba changes us from shudras into Brahmins and is making us into deities. We will then change from being worthy of worship to worshippers. Then, when you go onto the path of sin, you will build temples to Shiva and worship Him. You children have the knowledge of your 84 births. The Father says: You didn’t know of your 84 births; I now tell you. No human being can tell you this. The Father is now making you into spinners of the discus of self-realisation. You souls are becoming pure. Your bodies cannot become pure here. When you souls become pure you will have to leave your impure bodies. All souls have to become pure and return home. The pure world is now being established. All the rest will return to the sweet home. Remember this. Together with having remembrance of the Father, you also have to remember your home because you now have to return home. You have to remember the Father in the home. Although you know that the Father enters this body and speaks knowledge to you, don’t allow your intellects to break away from the supreme abode, your sweet home. The Teacher leaves His home and comes here to teach you. After teaching you, He will go far, far away. He can go anywhere in a second. A soul is such a tiny point. You should be amazed. The Father has given you knowledge of souls. You also know that there is nothing dirty in heaven through which your hands or feet or your clothes would become dirty. The costumes of the deities are very beautiful. Their clothes are firstclassthere will be no need to wash them. There should be so much happiness on seeing them. The soul knows that this is what we are to become for our future 21 births. Simply continue to look at this. Everyone should have this picture. You should have great happiness that this is what Baba is making you. So, why do you children of such a Father cry? You should not have any worries. People go to temples of the deities and sing songs of praise: “You are full of all virtues”, etc. They recite so many names. All the names that they remember are written in the scriptures. Who wrote them in the scriptures? Vyas, or even some new ones write them (the scriptures). Earlier, the Granth was very small and hand written. They have now made it so large. They must surely have made additions to it. Guru Nanak simply comes to establish a religion. Only the One gives knowledge. Even Christ simply comes to establish a religion. When everyone has come down, you will then all return. Who is the one who sends you home? Is it Christ? No; he is in a different name, form and tamopradhan stage. He has to pass through the sato, rajo and tamo stages. At this time, everyone is tamopradhan; everyone is in a state of total decay. At this time, having taken rebirth, those of all religions have become tamopradhan. Everyone now definitely has to return home. The cycle has to turn again. First, the new religion that existed in the golden age is needed. The Father comes and establishes the original, eternal, deity religion. Then destruction has to take place. There is establishment, destruction and then sustenance. In the golden age there is just one religion. Do you remember this? Bring the whole cycle into your awareness. We will now complete the cycle of 84 births and then return home. While walking and talking, spin the discus of self-realisation. Those people say that Krishna had a discus of self-realisation with which he killed everyone. They have shown a picture of Akasur and Bakasur (pair of devils). However, there was nothing like that. You children now have to remain spinners of the discus of self-realisation because your sins will be cut away by doing that. Any devilish nature will finish. There cannot be a war between deities and devils. Devils exist in the iron age whereas deities exist in the golden age and there is the confluence age in between. The scriptures belong to the path of devotion. There is no name or trace of knowledge. The Ocean of Knowledge is the one Father of all. Without the Father, no soul can become pure or return home. You definitely have to play your parts. Therefore, you now also have to remember your cycle of 84 births. We will go into our golden-aged, new birth. We will not receive such a birth again. There is Shiv Baba and this Brahma Baba. There is a lokik father, the parlokik Father and this is the alokik Baba. It is only at this time that you call this one alokik. You children remember Shiv Baba, not Brahma. Although people go to worship Brahma in the temple, that worship is only of the perfect avyakt image in the subtle region. This bodily being is not worthy of being worshipped, he is a human being. Human beings are not worshipped. Brahma is portrayed with a beard. Therefore, you can tell that he belongs here. Deities don’t have beards. All of these things have been explained to you children. Your name is glorified and this is why your temples have been created. The Somnath Temple is the highest of all. What happened after you were given nectar to drink? Now, look at the Dilwala Temple here: that temple is an accurate memorial. You are shown sitting on the ground doing tapasya and heaven is portrayed up above. People think that heaven is up above somewhere. How could they create heaven down below in the temples? That is why they portrayed it up above, on the ceiling. Those who created them didn’t understand anything. You have to explain this to the millionaires. You have now received knowledge. Therefore, you can give this to many others. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost, now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to finish your devilish nature, spin the discus of self-realisation as you move around. Keep the whole cycle in your awareness.
  2. Together with having remembrance of the Father, your intellect should also be connected to the home, the supreme abode. Think about the things that the Father has reminded you of and benefit yourself.
Blessing: May you be one with the determination to make a total sacrifice and celebrate the transformation ceremony.
There is a saying “Even if you have to die, you must not let go of your religion”. So, no matter what circumstances come, even if a mahavir form of Maya comes in front of you, do not let go of your principles. Do not take back into your thoughts the useless things that you have relinquished from your mind. Always be an elevated actor and with your powerful form of elevated self-respect, elevated awareness and elevated life, continue to play the game of greatness. Finish all games of weakness. When you have the determination to make such a total sacrifice, the ceremony of transformation will then take place. Now, collectively fix a date for this ceremony.
Slogan: Become a real diamond and spread the sparkle of your vibrations into the world.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 1 AUGUST 2020 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 August 2020

Murli Pdf for Print : – 

01-08-2020
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – तुम्हें पढ़ाई से अपनी कर्मातीत अवस्था बनानी है, साथ-साथ पतित से पावन बनाने का रास्ता भी बताना है, रूहानी सर्विस करनी है”
प्रश्नः- कौन-सा मंत्र याद रखो तो पाप कर्मों से बच जायेंगे?
उत्तर:- बाप ने मंत्र दिया है – हियर नो ईविल, सी नो ईविल…… यही मंत्र याद रखो। तुम्हें अपनी कर्मेन्द्रियों से कोई पाप नहीं करना है। कलियुग में सबसे पाप कर्म ही होते हैं इसलिए बाबा यह युक्ति बताते हैं, पवित्रता का गुण धारण करो – यही नम्बरवन गुण है।

ओम् शान्ति। बच्चे किसके सामने बैठे हैं। बुद्धि में जरूर चलता होगा कि हम पतित-पावन सर्व के सद्गति दाता, अपने बेहद के बाप के सामने बैठे हैं। भल ब्रह्मा के तन में हैं तो भी याद उनको करना है। मनुष्य कोई सर्व की सद्गति नहीं कर सकते। मनुष्य को पतित-पावन नहीं कहा जाता। बच्चों को अपने को आत्मा समझना पड़े। हम सब आत्माओं का बाप वह है। वह बाप हमको स्वर्ग का मालिक बना रहे हैं। यह बच्चों को जानना चाहिए और फिर खुशी भी होनी चाहिए। यह भी बच्चे जानते हैं हम नर्कवासी से स्वर्गवासी बन रहे हैं। बहुत सहज रास्ता मिल रहा है। सिर्फ याद करना है और अपने में दैवीगुण धारण करने हैं। अपनी जांच रखनी है। नारद का मिसाल भी है। यह सब दृष्टान्त, ज्ञान के सागर बाप ने ही दिये हैं। जो भी संन्यासी आदि दृष्टान्त देते हैं, वह सब बाप के दिये हुए हैं। भक्ति मार्ग में सिर्फ गाते रहते हैं। कछुए का, सर्प का, भ्रमरी का दृष्टान्त देंगे। परन्तु खुद कुछ भी नहीं कर सकते। बाप के दिये हुए दृष्टान्त भक्तिमार्ग में फिर रिपीट करते हैं। भक्ति मार्ग है ही पास्ट का। इस समय जो प्रैक्टिकल होता है उसका फिर गायन होता है। भल देवताओं का जन्म दिन अथवा भगवान का जन्म दिन मनाते हैं परन्तु जानते कुछ भी नहीं हैं। अभी तुम समझते जाते हो। बाप से शिक्षा लेकर पतित से पावन भी बनते हो और पतितों को पावन बनने का रास्ता भी बताते हो। यह है तुम्हारी मुख्य रूहानी सर्विस। पहले-पहले कोई को भी आत्मा का ज्ञान देना है। तुम आत्मा हो। आत्मा का भी किसको पता नहीं। आत्मा तो अविनाशी है। जब समय होता है आत्मा शरीर में आकर प्रवेश करती है तो अपने को घड़ी-घड़ी आत्मा समझना है। हम आत्माओं का बाप परमपिता परमात्मा है। परम टीचर भी है। यह भी हरदम बच्चों को याद रहना चाहिए। यह भूलना नहीं चाहिए। तुम जानते हो अब वापिस जाना है। विनाश सामने खड़ा है। सतयुग में दैवी परिवार बहुत छोटा होता है। कलियुग में तो कितने ढेर मनुष्य हैं। अनेक धर्म, अनेक मतें हैं। सतयुग में यह कुछ भी होता नहीं। बच्चों को सारा दिन बुद्धि में यह बातें लानी हैं। यह पढ़ाई है ना। उस पढ़ाई में तो कितने किताब आदि होते हैं। हर एक क्लास में नये-नये किताब खरीद करने पड़ते हैं। यहाँ तो कोई भी किताब वा शास्त्रों आदि की बात नहीं। इसमें तो एक ही बात, एक ही पढ़ाई है। यहाँ जब ब्रिटिश गवर्मेन्ट थी, राजाओं का राज्य था, तो स्टेम्प में भी राजा-रानी के सिवाए और कोई का फोटो नहीं डालते थे। आजकल तो देखो भक्त आदि जो भी होकर गये हैं उनकी भी स्टेम्प बनाते रहते हैं। इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य होगा तो चित्र भी एक ही महाराजा-महारानी का होगा। ऐसे नहीं जो पास्ट देवतायें होकर गये हैं उनके चित्र मिट गये हैं। नहीं, पुराने ते पुराने देवताओं का चित्र बहुत दिल से लेते हैं क्योंकि शिवबाबा के बाद नेक्स्ट हैं देवतायें। यह सब बातें तुम बच्चे धारण कर रहे हो औरों को रास्ता बताने। यह है बिल्कुल नई पढ़ाई। तुमने ही यह सुनी थी और पद पाया था और कोई नहीं जानते। तुमको राजयोग परमपिता परमात्मा सिखला रहे हैं। महाभारत लड़ाई भी मशहूर है। क्या होता है सो तो आगे चल देखेंगे। कोई क्या कहते, कोई क्या कहते। दिन-प्रतिदिन मनुष्यों को टच होता जाता है। कहते भी हैं वर्ल्ड वार लग जायेगी। उससे पहले तुम बच्चों को अपनी पढ़ाई से कर्मातीत अवस्था प्राप्त करनी है। बाकी असुरों और देवताओं की कोई लड़ाई नहीं होती है। इस समय तुम ब्राह्मण सम्प्रदाय हो जो फिर जाकर दैवी सम्प्रदाय बनते हो इसलिए इस जन्म में दैवीगुण धारण कर रहे हो। नम्बरवन दैवीगुण है पवित्रता का। तुम इस शरीर द्वारा कितने पाप करते आये हो। आत्मा को ही कहा जाता है पाप आत्मा, आत्मा इन कर्मेन्द्रियों से कितने पाप करती रहती है। अब हियर नो ईविल……. किसको कहा जाता है? आत्मा को। आत्मा ही कानों से सुनती है। बाप ने तुम बच्चों को स्मृति दिलाई है कि तुम आदि सनातन देवी-देवता धर्म वाले थे, चक्र खाकर आये अब फिर तुमको वही बनना है। यह मीठी स्मृति आने से पवित्र बनने की हिम्मत आती है। तुम्हारी बुद्धि में है हमने कैसे 84 का पार्ट बजाया है। पहले-पहले हम यह थे। यह कहानी है ना। बुद्धि में आना चाहिए 5 हज़ार वर्ष पहले हम सो देवता थे। हम आत्मा मूलवतन की रहने वाली हैं। आगे यह ज़रा भी ख्याल नहीं था – हम आत्माओं का वह घर है। वहाँ से हम आते हैं पार्ट बजाने। सूर्यवंशी-चन्द्रवंशी…… बने। अभी तुम ब्रह्मा की सन्तान ब्राह्मण वंशी हो। तुम ईश्वरीय औलाद बने हो। ईश्वर बैठ तुमको शिक्षा देते हैं। यह सुप्रीम बाप, सुप्रीम टीचर, सुप्रीम गुरू भी है। हम उनकी मत से सब मनुष्यों को श्रेष्ठ बनाते हैं। मुक्ति-जीवनमुक्ति दोनों श्रेष्ठ हैं। हम अपने घर जायेंगे फिर पवित्र आत्मायें आकर राज्य करेंगी। यह चक्र है ना। इसको कहा जाता है स्वदर्शन पा। यह ज्ञान की बात है। बाप कहते हैं तुम्हारा यह स्वदर्शन चक्र रूकना नहीं चाहिए। फिरते रहने से विकर्म विनाश हो जायेंगे। तुम इस रावण पर जीत पा लेंगे। पाप मिट जायेंगे। अब स्मृति आई है, सिमरण करने के लिए। ऐसे नहीं, माला बैठ सिमरण करनी है। आत्मा में अन्दर ज्ञान है जो तुम बच्चों को और भाई-बहिनों को समझाना है। बच्चे भी मददगार तो बनेंगे ना। तुम बच्चों को ही स्वदर्शन चक्रधारी बनाता हूँ। यह ज्ञान मेरे में है इसलिए मुझे ज्ञान का सागर मनुष्य सृष्टि का बीजरूप कहते हैं। उनको बागवान कहा जाता है। देवी-देवता धर्म का बीज शिवबाबा ने ही लगाया है। अभी तुम देवी-देवता बन रहे हो। यह सारा दिन सिमरण करते रहो तो भी तुम्हारा बहुत कल्याण है। दैवीगुण भी धारण करने हैं। पवित्र भी बनना है। स्त्री-पुरुष दोनों इकट्ठे रहते पवित्र बनते हो। ऐसा धर्म तो होता नहीं। निवृत्ति मार्ग वाले तो वह सिर्फ पुरुष बनते हैं। कहते हैं ना – स्त्री-पुरुष दोनों इकट्ठे पवित्र रह नहीं सकते, मुश्किल है। सतयुग में थे ना। लक्ष्मी-नारायण की महिमा भी गाते हैं।

अभी तुम जानते हो बाबा हमको शूद्र से ब्राह्मण बनाए फिर देवता बनाते हैं। हम ही पूज्य से पुजारी बनेंगे। फिर जब वाममार्ग में जायेंगे तो शिव का मन्दिर बनाए पूजा करेंगे। तुम बच्चों को अपने 84 जन्म का ज्ञान है। बाप ही कहते हैं तुम अपने जन्मों को नहीं जानते हो, मैं बताता हूँ। ऐसे और कोई मनुष्य कह न सके। तुमको अब बाप स्वदर्शन चक्रधारी बनाते हैं। तुम आत्मा पवित्र बन रही हो। शरीर तो यहाँ पवित्र बन न सके। आत्मा पवित्र बन जाती है तो फिर अपवित्र शरीर को छोड़ना पड़ता है। सब आत्माओं को पवित्र होकर जाना है। पवित्र दुनिया अब स्थापन हो रही है। बाकी सब स्वीट होम में चले जायेंगे। यह याद रखना चाहिए।

बाप की याद के साथ-साथ घर की भी याद जरूर चाहिए क्योंकि अब वापिस घर जाना है। घर में ही बाप को याद करना है। भल तुम जानते हो बाबा इस तन में आकर हमको सुना रहे हैं परन्तु बुद्धि परमधाम स्वीट होम से टूटनी नहीं चाहिए। टीचर घर छोड़कर आते हैं, तुमको पढ़ाने। पढ़ाकर फिर बहुत दूर चले जाते हैं। सेकण्ड में कहाँ भी जा सकते हैं। आत्मा कितनी छोटी बिन्दी है। वन्डर खाना चाहिए। बाप ने आत्मा का भी ज्ञान दिया है। यह भी तुम जानते हो स्वर्ग में कोई गन्दी चीज़ होती नहीं, जिसमें हाथ-पांव अथवा कपड़े आदि मैले हों। देवताओं की कैसी सुन्दर पहरवाइस है। कितने फर्स्ट क्लास कपड़े होंगे। धोने की भी दरकार नहीं। इनको देखकर कितनी खुशी होनी चाहिए। आत्मा जानती है भविष्य 21 जन्म हम यह बनेंगे। बस देखते रहना चाहिए। यह चित्र सबके पास होना चाहिए। इसमें बड़ी खुशी चाहिए – हमको बाबा यह बनाते हैं। ऐसे बाबा के हम बच्चे फिर रोते क्यों हैं! हमको कोई फिक्र थोड़ेही होना चाहिए। देवताओं के मन्दिर में जाकर महिमा गाते हैं – सर्वगुण सम्पन्न…… अचतम् केशवम्…… कितने नाम बोलते जाते हैं। यह सब शास्त्रों में लिखा हुआ है जो याद करते हैं। शास्त्रों में किसने लिखा? व्यास ने। या कोई नये-नये भी बनाते रहते हैं। ग्रंथ आगे बहुत छोटा था हाथ से लिखा हुआ। अभी तो कितना बड़ा बना दिया है। जरूर एडीशन किया होगा। अब गुरूनानक तो आते ही हैं धर्म की स्थापना करने। ज्ञान देने वाला तो एक ही है। क्राइस्ट भी आते हैं सिर्फ धर्म की स्थापना करने के लिए। जब सब आ जाते हैं फिर तो वापिस जायेंगे। घर भेजने वाला कौन? क्या क्राइस्ट? नहीं। वह तो भिन्न नाम-रूप में तमोप्रधान अवस्था में है। सतो, रजो, तमो में आते हैं ना। इस समय सब तमोप्रधान हैं। सबकी जड़जड़ीभूत अवस्था है ना। पुनर्जन्म लेते-लेते इस समय सब धर्म वाले आकर तमोप्रधान बने हैं। अब सबको वापिस जाना है जरूर। फिर से चक्र फिरना चाहिए। पहले नया धर्म चाहिए जो सतयुग में था। बाप ही आकर आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना करते हैं। फिर विनाश भी होना है। स्थापना, विनाश फिर पालना। सतयुग में एक ही धर्म होगा। यह स्मृति आती है ना। सारा चक्र स्मृति में लाना है। अभी हम 84 का चक्र पूरा कर वापिस घर जायेंगे। तुम बोलते चलते स्वदर्शन चक्रधारी हो। वह फिर कहते कृष्ण को स्वदर्शन चक्र था, उनसे सबको मारा। अकासुर बकासुर आदि के चित्र दिखाये हैं। परन्तु ऐसी कोई बात है नहीं।

तुम बच्चों को अभी स्वदर्शन चक्रधारी बनकर रहना है क्योंकि स्वदर्शन चक्र से तुम्हारे पाप कटते हैं। आसुरीपना खत्म होता है। देवताओं और असुरों की लड़ाई तो हो न सके। असुर हैं कलियुग में, देवतायें हैं सतयुग में। बीच में है संगमयुग। शास्त्र हैं ही भक्ति मार्ग के। ज्ञान का नाम निशान नहीं। ज्ञान सागर एक ही बाप है सबके लिए। सिवाए बाप के कोई भी आत्मा पवित्र बन वापिस जा नहीं सकती। पार्ट जरूर बजाना है, तो अब अपने 84 के चक्र को भी याद करना है। हम अभी सतयुगी नये जन्म में जाते हैं। ऐसा जन्म फिर कभी नहीं मिलता। शिवबाबा फिर ब्रह्मा बाबा। लौकिक, पारलौकिक और यह है अलौकिक बाबा। इस समय की ही बात है, इनको अलौकिक कहा जाता है। तुम बच्चे उस शिवबाबा को सिमरण करते हो। ब्रह्मा को नहीं। भल ब्रह्मा के मन्दिर में जाकर पूजा करते हैं, वह भी तब पूजते हैं जब सूक्ष्मवतन में सम्पूर्ण अव्यक्त मूर्त है। यह शरीरधारी पूजा के लायक नहीं है। यह तो मनुष्य है ना। मनुष्य की पूजा नहीं होती। ब्रह्मा को दाढ़ी दिखाते हैं तो मालूम पड़े यह यहाँ का है। देवताओं को दाढ़ी होती नहीं। यह सब बातें बच्चों को समझा दी हैं। तुम्हारा नाम बाला है इसलिए तुम्हारा मन्दिर भी बना हुआ है। सोमनाथ का मन्दिर कितना ऊंच ते ऊंच है। सोमरस पिलाया फिर क्या हुआ? फिर यहाँ भी देलवाड़ा मन्दिर देखो। मन्दिर हूबहू यादगार बना हुआ है। नीचे तुम तपस्या कर रहे हो, ऊपर में है स्वर्ग। मनुष्य समझते हैं स्वर्ग कहाँ ऊपर में हैं। मन्दिर में भी नीचे स्वर्ग कैसे बनायें! तो ऊपर छत में बना दिया है। बनाने वाले कोई समझते नहीं हैं। बड़े-बड़े करोड़पति हैं उन्हों को यह समझाना है। तुमको अभी ज्ञान मिला है तो तुम बहुतों को दे सकते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अन्दर से आसुरीपने को समाप्त करने के लिए चलते-फिरते स्वदर्शन चक्रधारी होकर रहना है। सारा चक्र स्मृति में लाना है।

2) बाप की याद के साथ-साथ बुद्धि परमधाम घर में भी लगी रहे। बाप ने जो स्मृतियां दिलाई हैं उनका सिमरण कर अपना कल्याण करना है।

वरदान:- सम्पूर्ण आहुति द्वारा परिवर्तन समारोह मनाने वाले दृढ़ संकल्पधारी भव
जैसे कहावत है “धरत परिये धर्म न छोड़िये”, तो कोई भी सरकमस्टांश आ जाए, माया के महावीर रूप सामने आ जाएं लेकिन धारणायें न छूटे। संकल्प द्वारा त्याग की हुई बेकार वस्तुयें संकल्प में भी स्वीकार न हों। सदा अपने श्रेष्ठ स्वमान, श्रेष्ठ स्मृति और श्रेष्ठ जीवन के समर्थी स्वरूप द्वारा श्रेष्ठ पार्टधारी बन श्रेष्ठता का खेल करते रहो। कमजोरियों के सब खेल समाप्त हो जाएं। जब ऐसी सम्पूर्ण आहुति का संकल्प दृढ़ होगा तब परिवर्तन समारोह होगा। इस समारोह की डेट अब संगठित रूप में निश्चित करो।
स्लोगन:- रीयल डायमण्ड बनकर अपने वायब्रेशन की चमक विश्व में फैलाओ।

TODAY MURLI 1 AUGUST 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 1 August 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 July 2019:- Click Here

01/08/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you now have to return home and you must therefore make effort to remember the Father and to reform your character.
Question: What is it that puts you to sleep on the path of ignorance? What damage has been caused by that?
Answer: Saying that the duration of a cycle is hundreds of thousands of years is something that puts everyone to sleep in the sleep of ignorance and it is through this that they have lost the eye of knowledge. They consider the home to be very far away: they have it in their intellects that they have to play their parts of happiness and sorrow here for hundreds of thousands of years. Therefore they do not make effort to become pure. You children know that the home is now very close. We now have to make effort and become karmateet.

Om shanti. The Father has now reminded you sweetest children of your home. Although people on the path of devotion also remember the home, they don’t know anything about how or when they go there. By saying that the duration of the cycle is hundreds of thousands of years, they have forgotten their home. They believe that they will still play their parts here for hundreds of thousands of years and so they have forgotten the home. The Father now reminds you: Children, your home is very close. You are now to go to your home. I have come because you children called out to Me. Will you come with Me? This is something so easy! On the path of devotion, they don’t know when they will go to the land of liberation. Liberation is called the home. Because of saying it is hundreds of thousands of years, they have forgotten everything. They have forgotten the Father and also the home. A lot of difference is caused by saying it is hundreds of thousands of years. It is as though they have fallen asleep in the sleep of ignorance. No one understands anything. On the path of devotion, they show the home to be very far away. The Father says: Wonderful! You now have to go to the land of liberation. It isn’t that you perform devotion for hundreds of thousands of years. You don’t even know when devotion began. There is no need to make a calculation of hundreds of thousands of years. People forget the Father and the home. This is also fixed in the drama but they have needlessly made it so distant! The Father now says: Children, your home is very close. I have now come to take you back. You have to go back home. However, you definitely do have to become pure. You have been bathing in the Ganges etc., but none of you became pure. If you had become pure, you would have gone home. However, you don’t know about the home and you don’t know about purity. People have been performing devotion for half the cycle and so they can’t stop it. The Father now says: Devotion is coming to an end. There continues to be limitless sorrow in devotion. It isn’t that you children have seen sorrow for hundreds of thousands of years. There is no question of hundreds of thousands of years. You experienced real sorrow in the iron age when you became dirtied by many vices. Previously, when you were in the rajo stage, you had some understanding, but you have now become completely senseless! You children are now told: If you want to go to the land of happiness, become pure! Have remembrance and remove the burden of sins of many births that are on you heads. You will become very happy by having remembrance. Remember the Father who takes you to the land of happiness for half the cycle. The Father says: You have to become like Lakshmi and Narayan. Therefore, become pure and reform your character. Vices are called evil spirits. The evil spirit of greed is no less. That evil spirit is very impure; it makes people completely dirty. Even greed makes you commit a lot of sin. The five vices are very strong evil spirits. You have to renounce all of them. It is just as difficult to renounce greed as it is to renounce lust. Even to renounce attachment becomes just as difficult as it is to renounce lust; they just can’t renounce it. The Father has been explaining all your lives but, even then, the strings of attachment remain connected. Even anger is renounced with great difficulty. People say: I feel angry with the children. They mention the word “anger”. No evil spirit should come. You have to become victorious over them. The Father says: Continue to make effort for as long as I am here. How many years will the Father remain here? The Father has been sitting here and explaining for so many years. He has given a good amount of time. It is very easy to know the world cycle. All the knowledge enters your intellects in seven days, but it takes time for the sins of many births to be cut away. This is the difficulty. Baba gives you time for this. There is a lot of opposition from Maya for she makes you completely forget. Whilst sitting here, you are not sitting in remembrance all the time. Your intellects wander in many directions. This is why you have to give time to making effort and reach your karmateet stage. The study is very easy. A sensible child would understand in seven days all the knowledge of how this cycle of 84 turns. However, effort is required to become pure. There is so much upheaval because of this. People understand that this is right and that they used to cause defamation saying that the Brahma Kumaris made everyone into brothers and sisters. However, this is absolutely right. How can we remain pure unless we become the children of Prajapita Brahma? How can we change into those with civil eyes from being those with criminal eyes? This is a very good method: We are Brahma Kumars and Kumaris and so we are brothers and sisters. You receive a lot of help through this in making your eyes civil. There is also the task of Brahma. The deity religion is established through Brahma, that is, human beings are changed into deities. The Father comes at the most auspicious confluence age. So you have to make so much effort in order to explain this. Centres are opened to give the Father’s introduction. You have to claim the unlimited inheritance from the unlimited Father. God is incorporeal whereas Krishna is a bodily being; he cannot be called God. People say that God will come and give the fruit of devotion, but they don’t have the introduction of God. You explain so much and yet people don’t understand. Bodily beings definitely take rebirth. The inheritance cannot be received from them. Souls receive this inheritance from the Supreme Father, the Supreme Soul. Human beings cannot grant liberation-in-life to human beings. You children are making effort to claim this inheritance. You had been wandering around so much in order to meet that Father. Previously, you used to worship Shiva alone and you didn’t go to anyone else at all; that was unadulterated devotion. There weren’t as many temples etc. to anyone else. Now, there are so many images and people build so many temples etc. You have to make so much effort on the path of devotion. You know that there is no path to liberation or salvation in the scriptures. Only the one Father shows you that. They continue to build so many temples on the path of devotion. In fact, temples are only built to those deities who resided in the golden age. There aren’t temples built to other human beings because they are impure. Impure human beings worship pure deities. Although they too are human beings, they have divine virtues. Those who don’t have divine virtues worship them. You were worthy of worship yourselves and you then became worshippers. To worship human beings means to worship the five elements. The bodies are made of the five elements. You children now have to go to the land of liberation. You performed so much devotion for that. I now take you back with Me and you will then go to the golden age. The Father has come to take you from the impure world to the pure world. There are two pure lands: liberation and liberation-in-life. The Father says: Sweetest children, I come at the confluence age of every cycle. You take on so much sorrow on the path of devotion. There is also the song: We went around in all four directions, and yet remained distant from You! From whom did we remain distant? From the Father. In order to find the Father, you went around birth after birth. Nevertheless, you remained distant from the Father. This is why people call out: O Purifier, come! Come and make us pure! No one except the Father can make you this. So, this is a drama of 5000 years. You are all making effort, according to the drama, exactly as you did in the previous cycle. The kingdom is being established according to that. Not everyone will study to the same extent. This is a school. This is the study of Raj Yoga. Those who belong to the deity religion will emerge. The population of the incorporeal world will also be accurate; it won’t be any more or any less. There is an exact number of actors in a play, but people cannot understand this. However many there are, that number is accurate and they will come and play their parts. You will go to the new world and all the rest will go there (home). If any of you want to count them now, you can do so. The Father is now telling you very deep points. There is so much difference between the explanation that was given at the beginning and the explanation given now. Studying takes time. No one can become an ICS. straight away. Studying takes place numberwise. The Father makes everything so easy and explains to you so that it can easily sit in people’s intellects. Day by day, He continues to explain new points. The Father now says: You called out to Me, the Purifier Father, to come. I have come. Therefore, become pure! Consider yourselves to be souls and constantly remember Me alone and you will become satopradhan. You will then have to come down here to play your parts. The Father says you: Souls have become impure and this is why you remember the Purifier Father in order to become pure. It is such a wonder that such a tiny soul plays such a big part! This is called a wonder. He cannot be seen. Some say that they want to have a vision of the Supreme Soul. The Father says: What vision would you have of such a tiny soul? I am someone you have to know, but it is difficult to see Me. Souls have receive all of these physical organs in order to play their parts. How great a part the soul plays is a wonder! A soul never wears out. This is the imperishable drama and it is predestined. You cannot ask when it was created; it is called eternal. Ask people: When did you start burning Ravan? When did you start studying the scriptures? Because they don’t know, they would say: Since eternity! They are confused. The Father sits here and explains in the same way that children are taught. You know that you were completely senseless and that you now have unlimited understanding. That is a limited study whereas this is unlimited. It is day for half the cycle and night for half the cycle. You cannot experience the slightest sorrow for 21 births. It is said: May not even a hair of yours get entangled! No one can cause you sorrow. The very name is the land of happiness. There is no happiness here. The main thing is purity. A very good characteris required. Everything is explained to you children very clearly. There is damage and loss. The Father now says: There is no question of benefit at this time. Now there will be loss and further loss. The time for destruction is coming, and so just see what happens at that time! When there isn’t any rain, grain becomes so expensive. No matter how much they say that there will be a lot of grain after three years, they still have to import grain from abroad. The time will come when you won’t be able to get a single grain. So many calamities are to come. They call those, “Godly calamities.” When there isn’t any rain, there will definitely be famine. All the elements etc. are going to get worse. In many places, rain causes so much damage. You children know that the Father is establishing the eternal deity religion. This is your aim and objective. You are being made into Narayan from an ordinary man once again. Only the unlimited Father teaches you this unlimited lesson. However much someone studies, he claims a status accordingly. The Father inspires you to make effort. If you make less effort, a low status will be received. A teacher would explain to students. When you make others similar to yourselves, it can be known that you study well and also teach others. The main thing is the pilgrimage of remembrance. There are huge burdens of sin on your heads. Remember Me and your sins will be burnt away. This is a spiritual pilgrimage. Also teach small children to remember Shiv Baba; they too have a right. They wouldn’t understand that they have to consider themselves to be souls and remember the Father; no, they will only remember Shiv Baba. By making effort, they too can be benefitted. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to claim the status of Narayan from an ordinary man, learn the unlimited lesson from the unlimited Father and also teach others. Do the service of making others similar to yourself.
  2. Make effort to remove the strings of attachment and greed. Reform your character in such a way that no evil spirits can enter you.
Blessing: May you be a bestower filled with all treasures by having the awareness of your form of all rights to sovereignty and of your worthy-of-worship form.
Always maintain the awareness: I am a worthy-of-worship soul and is a bestower who gives to others I am not a taker, but a bestower. Just as the Father gives to all of you of His own accord, in the same way, you also have to become master bestowers and continue to give and not ask for anything. Maintain the awareness of your form of having a right to sovereignty and of being worthy of worship. People have been going in front of your non-living images up to today and asking for something or they ask to be protected. So, you are those who protect, not those who call out for protection. However, in order to be a bestower, become full of all treasures with remembrance, service, good wishes and pure feelings.
Slogan: The happiness in your behavior and on your face is a sign of a spiritual personality.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 1 AUGUST 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 August 2019

To Read Murli 31 July 2019 :- Click Here
01-08-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अब वापिस घर जाना है इसलिए बाप को याद करने और अपने चरित्र को सुधारने की मेहनत करो”
प्रश्नः- अज्ञान नींद में सुलाने वाली बात कौन-सी है? उससे नुकसान क्या हुआ है?
उत्तर:- कल्प की आयु लाखों वर्ष कहना, यही अज्ञान की नींद में सुलाने वाली बात है। इससे ज्ञान नेत्रहीन हो गये हैं। घर को बहुत दूर समझते हैं। बुद्धि में है अभी तो लाखों वर्ष यहाँ ही सुख-दु:ख का पार्ट बजाना है इसलिए पावन बनने की मेहनत नहीं करते हैं। तुम बच्चे जानते हो अभी घर बहुत नज़दीक है। अब हमें मेहनत करके कर्मातीत बनना है।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चों को अब बाप ने घर याद दिलाया है। भल भक्ति मार्ग में भी घर को याद करते हैं परन्तु वहाँ जाना कब है, कैसे जाना है, वह कुछ भी नहीं जानते। कल्प की आयु लाखों वर्ष कह देने कारण घर भी भूल गया है। समझते हैं लाखों वर्ष यहाँ ही पार्ट बजाते हैं तो घर भूल जाता है। अभी बाप याद दिलाते हैं – बच्चे, घर तो बहुत नज़दीक है, अब चलेंगे अपने घर! मैं तो तुम बच्चों के बुलावे पर आया हूँ। चलेंगे? कितनी सहज बात है। भक्ति मार्ग में तो पता भी नहीं पड़ता कि कब मुक्तिधाम में जायेंगे। मुक्ति को ही घर कहा जाता है। लाखों वर्ष कह देने के कारण सब भूल जाते हैं। बाप को भी तो घर को भी भूल जाते हैं। लाखों वर्ष कहने से बहुत फर्क पड़ जाता है। अज्ञान नींद में जैसे सो जाते हैं। किसको भी समझ में नहीं आता। भक्ति मार्ग में घर कितना दूर बताते हैं। बाप कहते हैं वाह मुक्तिधाम में तो अभी जाना है। ऐसे थोड़ेही है तुम कोई लाखों वर्ष भक्ति करते हो। तुमको पता भी नहीं कि भक्ति कब से शुरू हुई है। लाखों वर्ष का हिसाब तो करने की दरकार ही नहीं। बाप को और घर को भूल जाते हैं। यह भी ड्रामा में नूंध है, परन्तु नाहेक इतना दूर कर देते हैं। अब बाप कहते हैं – बच्चे, घर तो बिल्कुल नज़दीक है, अब मैं आया हूँ तुमको ले चलने। घर चलना है परन्तु पवित्र तो जरूर बनना है। गंगा स्नान आदि तो तुम करते आये हो, परन्तु पवित्र बने नहीं हो। अगर पवित्र बनते तो घर चले जाते, परन्तु घर का भी पता नहीं तो पवित्रता का भी पता नहीं। आधाकल्प से भक्ति की है तो भक्ति को छोड़ते ही नहीं। अब बाप कहते हैं भक्ति पूरी होती है। भक्ति में तो अपरमपार दु:ख रहता है। ऐसे नहीं कि तुम बच्चों ने लाखों वर्ष दु:ख देखा है, लाखों वर्ष की तो बात ही नहीं। सच्चा-सच्चा दु:ख तो तुमने कलियुग में ही भोगा जबकि जास्ती विकारों में गन्दे बने हो। पहले जब रजो में थे तो कुछ समझ थी, अभी तो बिल्कुल बेसमझ हो गये हैं। अब बच्चों को कहते हैं सुखधाम चलना है तो पावन बनो। जन्म-जन्मान्तर के जो पाप सिर पर हैं, उन्हें याद से उतारो। याद से बड़ी खुशी रहेगी। जो बाप तुमको आधा-कल्प सुखधाम में ले जाते हैं, उनको याद करना है। बाप कहते हैं तुमको ऐसा (लक्ष्मी-नारायण जैसा) बनना है तो एक तो पवित्र बनो और चरित्र सुधारो। विकारों को कहा जाता है भूत, लोभ का भी भूत कम नहीं है। यह भूत बहुत अशुद्ध है। मनुष्य को एकदम गन्दा बना देता है। लोभ भी बहुत पाप कराता है। 5 विकार बहुत कड़े भूत हैं। इन सबको छोड़ना है। लोभ को छोड़ना भी ऐसा मुश्किल है जैसे काम को छोड़ना मुश्किल है। मोह को छोड़ना भी इतना मुश्किल हो जाता जितना काम को छोड़ना। छोड़ते ही नहीं। सारी आयु बाप समझाते आये हैं तो भी मोह की रग जुटी हुई रहती है। क्रोध भी मुश्किल छूटता है। कहते हैं बच्चों पर क्रोध आता है। नाम तो क्रोध का लेते हैं ना। कोई भी भूत न आये, उन पर विजय पानी है।

बाप कहते हैं जब तक मैं हूँ तब तक तुम पुरूषार्थ करते रहो। बाप कितना वर्ष रहेंगे? बाप इतने वर्षों से बैठ समझाते हैं, अच्छा ही टाइम देते हैं। सृष्टि चक्र को जानना तो बहुत सहज है। 7 दिन में सारा ज्ञान बुद्धि में आ जाता है। बाकी जन्म-जन्मान्तर के पाप कटने में देरी लगती है। यही मुश्किलात है। उसके लिए बाबा टाइम देते हैं। माया का आपोजीशन बहुत होता है, एकदम भुला देती है। यहाँ बैठते हैं तो सारा समय याद में थोड़ेही बैठते हैं, बहुत तरफ बुद्धि चली जाती है, इसलिए टाइम देना है, मेहनत कर कर्मातीत अवस्था को पाना है। पढ़ाई तो बहुत सहज है। सेन्सीबुल बच्चा हो तो 7 रोज़ में सारा ज्ञान समझ ले कि यह 84 का चक्र कैसे फिरता है। बाकी पवित्र बनने में है मेहनत। इस पर कितने हंगामे होते हैं। समझते हैं बात तो राइट है हम ग्लानि करते थे कि ये ब्रह्माकुमारियाँ भाई-बहिन बनाती हैं, परन्तु बात तो बरोबर राइट है। जब तक हम प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे नहीं बने हैं तब तक पवित्र कैसे रह सकेंगे, क्रिमिनल आई से सिविल आई कैसे बन सकती है। यह युक्ति बड़ी अच्छी है – हम ब्रह्माकुमार-कुमारियाँ हैं तो भाई-बहन हो गये। इसमें बड़ी मदद मिलती है, सिविल आई बनाने में। ब्रह्मा का कर्तव्य भी है ना। ब्रह्मा द्वारा देवी-देवता धर्म की स्थापना अथवा मनुष्य को देवता बनाना।

बाप आते ही हैं पुरूषोत्तम संगमयुग पर। तो समझाने की कितनी मेहनत करनी पड़ती है। बाप का परिचय देने लिए ही सेन्टर्स खोले जाते हैं। बेहद के बाप से बेहद का वर्सा लेना है। भगवान तो है निराकार। कृष्ण तो देहधारी है, उनको भगवान कह नहीं सकते। कहते भी हैं भगवान आकर भक्ति का फल देंगे परन्तु भगवान का परिचय नहीं है। कितना तुम समझाते हो फिर भी समझते नहीं। देहधारी तो पुनर्जन्म में आते हैं जरूर। अब उनसे वर्सा मिल न सके। आत्माओं को एक परमपिता परमात्मा से वर्सा मिलता है। मनुष्य, मनुष्य को जीवनमुक्ति दे न सकें। यह वर्सा पाने के लिए तुम बच्चे पुरूषार्थ कर रहे हो। उस बाप को पाने लिए तुम कितना भटकते थे। पहले तो सिर्फ एक शिव की पूजा करते थे, और कोई तरफ जाते नहीं थे। वह थी अव्यभिचारी भक्ति, औरों के मन्दिर आदि इतने नहीं थे। अभी तो ढेर चित्र हैं, मन्दिर आदि बनाते हैं। भक्ति मार्ग में तुमको कितनी मेहनत करनी पड़ती है। तुम जानते हो शास्त्रों में कोई गति-सद्गति का रास्ता नहीं है, वह तो एक बाप ही बताते हैं। भक्ति मार्ग में कितने मन्दिर बनाते रहते हैं। वास्तव में मन्दिर सिर्फ होते हैं देवी-देवताओं के और कोई मनुष्य का मन्दिर बनता नहीं क्योंकि मनुष्य तो हैं पतित। पतित मनुष्य पावन देवताओं की पूजा करते हैं। भल हैं वह भी मनुष्य, परन्तु उनमें दैवीगुण हैं, जिनमें दैवीगुण नहीं हैं वह उनकी पूजा करते हैं। तुम खुद ही पूज्य थे, फिर पुजारी बने हो। मनुष्य की भक्ति करना यह 5 तत्वों की भक्ति करना है। शरीर तो 5 तत्वों का बना हुआ है। अब बच्चों को मुक्तिधाम में चलना है, जिसके लिए इतनी भक्ति की है। अब अपने साथ ले चलता हूँ। तुम सतयुग में चले जायेंगे। बाप आये ही हैं पतित दुनिया से पावन दुनिया में ले चलने। पावन दुनिया हैं ही दो – मुक्ति और जीवनमुक्ति। बाप कहते हैं – मीठे-मीठे बच्चों, मैं कल्प-कल्प संगमयुग पर आता हूँ। तुम भक्ति मार्ग में कितने दु:ख उठाते हो। गीत भी है ना – चारों तरफ लगाये फेरे….. दूर रहे किससे? बाप से। बाप को ढूंढने के लिए जन्म बाई जन्म फेरे लगाये परन्तु फिर भी बाप से दूर रहे इसलिए बुलाते हैं हे पतित-पावन आओ, आकर पावन बनाओ। बाप के सिवाए और कोई बना न सके। तो यह खेल ही 5 हज़ार वर्ष का है। ड्रामा अनुसार हर एक पुरूषार्थ करते हैं, जिस प्रकार कल्प पहले किया है, उस अनुसार ही राजधानी की स्थापना हो रही है। सब एक जैसा तो नहीं पढ़ेंगे। यह पाठशाला है ना। राजयोग की पढ़ाई है जो देवी-देवता धर्म के होंगे वह निकल आयेंगे। मूलवतन में भी जो संख्या है, वह एक्यूरेट होगी। कम जास्ती नहीं। नाटक में एक्टर्स का अन्दाज बिल्कुल पूरा है। परन्तु समझ नहीं सकते। जितने भी हैं, उतने एक्यूरेट हैं फिर भी वह आकर पार्ट बजायेंगे। फिर तुम आते हो नई दुनिया में। बाकी सब वहाँ चले जायेंगे। अभी कोई गिनती करे तो कर सकते हैं। अभी बाप तुमको बहुत गुह्य-गुह्य प्वाइंट्स बताते हैं। शुरू की और अभी की समझानी में कितना फ़र्क है। पढ़ाई में टाइम लगता है। फट से कोई आई.सी.एस. नहीं बन जायेंगे। नम्बरवार पढ़ाई होती है। बाप कितना सहज कर समझाते हैं जो मनुष्यों की बुद्धि में सहज बैठ सके। दिन-प्रतिदिन नई-नई प्वाइंट्स समझाते रहते हैं। अब बाप कहते हैं मुझ पतित-पावन बाप को बुलाया है, मैं आया हूँ तो तुम पावन बनो ना। अपने को आत्मा समझ मामेकम् याद करो तो तुम सतोप्रधान बन जायेंगे। फिर यहाँ आना पड़ेगा पार्ट बजाने। बाप कहते हैं आत्मा पतित बनी है, इसलिए पतित-पावन बाप को याद करते हैं पावन बनने के लिए। कितना वन्डर है इतनी छोटी-सी आत्मा कितना पार्ट बजाती है, इसको कुदरत कहा जाता है। उनको देखा नहीं जाता है। कोई कहते हैं, हम परमात्मा का साक्षात्कार करें। बाप कहते हैं इतनी छोटी बिन्दी का तुम साक्षात्कार क्या करेंगे। मैं जानने लायक हूँ, बाकी देखना तो मुश्किल है। आत्मा को यह सब कर्मेन्द्रियाँ मिली हुई है पार्ट बजाने के लिए। कितना पार्ट बजाती हैं, यह वन्डर है। कभी भी आत्मा घिसती नहीं। यह है अविनाशी ड्रामा। यह अविनाशी बना बनाया है। कब बना – यह पूछ नहीं सकते। इनको अनादि कहा जाता है। मनुष्यों से पूछो रावण को कब से जलाते आये हैं? शास्त्र कब से पढ़ते आये हो? तो कह देते हैं अनादि हैं, पता नहीं है। मूंझे हुए हैं ना। बाप बैठ समझाते हैं, हूबहू जैसे बच्चों को पढ़ाते हैं।

तुम जानते हो हम बिल्कुल बेसमझ थे फिर बेहद की समझ आ गई है। वह होती है हद की पढ़ाई, यह है बेहद की। आधाकल्प है दिन, आधाकल्प है रात। 21 जन्म तुम रिंचक भी दु:ख नहीं पा सकते। कहते हैं ना – शल तुम्हारा बाल भी बांका न हो। कोई दु:ख दे न सके। नाम ही है सुखधाम। यहाँ तो सुख है नहीं। मूल बात है पवित्रता की। कैरेक्टर्स अच्छे चाहिए ना।

बच्चों को हर बात क्लीयर समझाई जाती है। नुकसान और फायदा होता है ना। अभी तो बाप कहते हैं फायदे की बात ही छूटी। अभी तो नुकसान ही नुकसान होने का है। विनाश का समय आ रहा है उस समय देखना क्या-क्या होता है। बरसात नहीं होती है तो अनाज की कितनी मंहगाई हो जाती है। भल कितना भी कहते हैं 3 वर्ष के बाद बहुत अनाज होगा फिर भी अनाज बाहर से मंगाते रहते हैं। ऐसा समय आयेगा जो एक दाना भी मिल नहीं सकेगा। इतनी आपदायें आनी हैं, इनको ईश्वरीय आपदायें कहते हैं। बरसात नहीं पड़ी तो अकाल जरूर पड़ेगा। सभी तत्व आदि बिगड़ने वाले हैं। बहुत जगह तो बरसात नुकसान कर देती है।

तुम बच्चे जानते हो बाप आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना कर रहे हैं। तुम्हारी एम ऑबजेक्ट है यह, फिर से तुमको नर से नारायण बनाते हैं। यह बेहद का पाठ बेहद का बाप ही पढ़ाते हैं। जो जैसा पढ़ेगा, ऐसा पद पायेगा। बाप तो पुरूषार्थ कराते हैं। पुरूषार्थ कम करेंगे तो पद भी कम पायेंगे। टीचर भी स्टूडेन्ट को समझायेंगे ना। दूसरे को जब आपसमान बनाते हैं, तब मालूम पड़ता है यह अच्छी रीति पढ़ते और पढ़ाते हैं। मूल है ही याद की यात्रा, सिर पर पापों का बोझा बहुत है, मुझे याद करो तो पाप भस्म हों। यह है रूहानी यात्रा। छोटे बच्चे को भी सिखलाओ कि शिवबाबा को याद करो। उनका भी हक है। यह नहीं समझेंगे कि अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना है। नहीं, सिर्फ शिवबाबा को याद करेंगे। मेहनत करने से उनका भी कल्याण हो सकता है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) नर से नारायण पद प्राप्त करने के लिए बेहद के बाप से बेहद का पाठ पढ़कर दूसरों को पढ़ाना है। आप समान बनाने की सेवा करनी है।

2) लोभ, मोह की जो रगें हैं उनको निकालने की मेहनत करनी है। अपने चरित्र को ऐसा सुधारना है जो कोई भूत अन्दर प्रवेश होने न पाये।

वरदान:- अपने राज्य अधिकारी वा पूज्य स्वरूप की स्मृति से दाता बन देने वाले सर्व खजानों से सम्पन्न भव
सदा इसी स्मृति में रहो कि मैं पूज्य आत्मा औरों को देने वाली दाता हूँ, लेवता नहीं, देवता हूँ। जैसे बाप ने आप सबको आपेही दिया है ऐसे आप भी मास्टर दाता बन देते चलो, मांगो नहीं। अपने राज्य अधिकारी वा पूज्य स्वरूप की स्मृति में रहो। आज तक आपके जड़ चित्रों से जाकर मांगनी करते हैं, कहते हैं हमको बचाओ। तो आप बचाने वाले हो, बचाओ-बचाओ कहने वाले नहीं। परन्तु दाता बनने के लिए याद से, सेवा से, शुभ भावना, शुभ कामना से सर्व खजानों में सम्पन्न बनो।
स्लोगन:- चलन और चेहरे की प्रसन्नता ही रूहानी पर्सनैलिटी की निशानी है।

TODAY MURLI 1 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 1 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 31 July 2018 :- Click Here

01/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, become victorious by having faith in the intellect. Only on the basis of your faith can you become worthy of the kingdom of heaven. The first faith you need to have is that God has become the Teacher and is teaching you.
Question: Although the Father is the Almighty Authority, why does He not do everything through inspiration?
Answer: Baba says: I am the Ocean of Knowledge. I have to come to speak knowledge. If a professor were to sit at home, how would he be able to teach? I have to educate you children and make you worthy and give you the inheritance of heaven. This is why I come and take the support of a body. You children should not have the slightest doubt about this.
Song: The rain of knowledge is for those who are with the Beloved. 

Om shanti. The Father is called the Beloved. The Father would not shower rain of water. This is something to be understood. When someone doesn’t understand anything, it is said: You have a stone intellect. Now, the Lord of Divinity is very well known. The Lord of Divinity makes you divine. Who makes you into stone? Ravan is called the lord who makes you into stone. You belong to the community of Rama. From having stone intellects you continue to become lords of divinity, numberwise. How do the king, queen and subjects all become those with divine intellects? There must definitely be someone who makes them into those with divine intellects. However, some will go into the sun dynasty, some into the moon dynasty, some will become maids and servants and some will become wealthy subjects; it all depends on effort. It is surely the Supreme Father, the Supreme Soul, who is called the Lord of Divinity. No human being is called the Ocean of Knowledge. This praise is only of the incorporeal Father. He is the Ocean of Knowledge and He therefore definitely needs a body to speak the knowledge. A soul definitely needs a body to perform actions according to the sanskars that he carries. The Father is the incorporeal Supreme Father, the Supreme Soul, and He is praised a great deal. The Father of all is incorporeal; He too is just a soul. The soul says through these organs: These are my children. The Father has explained that human beings feed a brahmin priest. Achcha, they invite that soul to come into the brahmin priest and they ask that soul questions. Even if they don’t ask questions, they at least feed the brahmin. When someone’s husband has died, his widow would say: I am feeding the departed soul of my husband. Achcha. Your husband has died, so whom are you going to call? The soul or the body? It is a matter of understanding that you would definitely call the soul; the body is no more. They feed the brahmin priest, that is, the departed soul enters the brahmin and eats the food. What is the proof that that dead person’s soul comes? He definitely comes. The soul comes and speaks. When you ask that soul where a particular thing has been placed, the soul tells you. Therefore, she definitely believes that she is feeding the soul of her husband and that she is bowing down to her husband. She doesn’t see the brahmin at that time. It is as though she sees the name and form of her husband and bows down to him. That name and form (of the husband) has been burnt, but she still remembers that body. Souls enter brahmins. It can be felt that another soul has entered. The soul has come and so they definitely have to have that faith. It has been explained to you children that the Supreme Father, the Supreme Soul, is incorporeal. He doesn’t have a body of His own, so how can He give the inheritance? Surely this is why He has to take the support of a body. First of all, there definitely has to be the faith that there is the Supreme Father, the Supreme Soul, and that He has come to give the inheritance through this one. He would not do that through inspiration. He has to come and teach you. He is the Ocean of Knowledge. These matters have to be understood. Those who don’t have the future elevated reward in their fortune won’t be able to understand. This one’s soul says: I am not the Ocean of Knowledge. That Supreme Father, the Supreme Soul, says: I am the Ocean of Knowledge, but how could I, the incorporeal One, sit up above and teach through inspiration? Education never takes place in that way. If a professor were to sit at home, would he be able to teach through inspiration? He would definitely have to go to the school. The Supreme Father, the Supreme Soul, too, would not teach you while sitting at home. Pictures can’t be explained through inspiration. Shiv Baba has had these pictures made. He Himself then comes and says: I have had these pictures made. This one (Brahma) didn’t even know this. I had them made by giving divine visions to the children. The Father is Karankaravanhar. First of all, the Father explains: I am the Father of you souls. How else would you children receive the inheritance? There definitelyare temples. There is also the temple to that One’s soul. All the rest are temples to living beings (embodied souls) because living beings come into birth and death, whereas God doesn’t. Therefore, He has only been shown as incorporeal. The Father says: I teach you Raja Yoga. This Baba also says: I too am studying. Now, there is no question of inspiration or power in this. If someone says that there is some power, how could he receive the inheritance? That Father says: I teach you Raja Yoga. If God speaks, He surely has to enter a body. It isn’t that this one has some power in him. Here, it is a question of studying. I am your Father and I also have to become your Teacher. How could I inspire everyone? I would then have to teach everyone in the same way. However, a kingdom is being established. Some have to become maids and servants and others have to become subjects. If any of you want to ask, you can ask Baba to what extent you have become worthy and whether you will become the sun or moon dynasty or maids and servants. What status would I claim if I were to shed my body at this time? If you come and study with Baba, Baba can tell you that, according to how you study. Would a student in a school ask his teacher: Masterji, with how many marks will I pass? The master would tell you approximately: You have not studied fully and so how can you claim many marks? You yourself can understand if you are not truly studying fully. Each one’s heart would tell the self. The unlimited Father can also tell you. To some, Baba would say: You are a very good flower. You can come in this number in the rosary of victory, according to the present time. This is because, while moving along, some also fall. Many of Baba’s children are no longer here today because they didn’t follow shrimat and are now influenced by lust and body consciousness. Some are influenced by greed or attachment. Maya is such that she even makes you steal. Maya makes you do all of that. It is said: One who steals a straw can also steal a hundred thousand. Some have bad habits. Those who have the habit of lust would run away from here. They wouldn’t be able to remain here. Some would even steal under the influence of greed. Maya makes them steal. Maya enters them. They don’t let go of the first number body consciousness. Baba says: Have the faith that you are a soul. Souls are immortal and bodies are mortal. Become soul conscious. Some become soul conscious in two to three months and some don’t become that in even 25 years. This one course is very long and it continues for 50 to 60 years. If you don’t know the course of the study and the teacher who teaches you, what would you study? By knowing this Baba, you can also know Shiv Baba, the One to whom you have to connect your intellects in yoga. We have to become the masters of the world, and it wouldn’t be a human being who makes us that. Until you have faith, you haven’t understood anything. Even some of those who have been here for 20 to 25 years don’t have full faith; they continue to fluctuate. One minute, they have faith and the next minute, they have doubt. Baba explains: You speak of God, the Father, and so you souls are His children. He is your Father. Everyone should write: Yes, He is our one and only God, the Father. You received your inheritance of the kingdom of heaven from the Father and He would therefore have definitely taught you Raja Yoga. Only the Father would teach you that. Until someone has firm faith in the Father, you can understand that that one is not worthy of heaven. They don’t know the Father, so how could they receive the inheritance? The Father comes to give the inheritance, but some don’t take it because it is not in their fortune. Those whose intellects have faith become victorious whereas those whose intellects have doubt are led to destruction. First of all, know the Father. The incorporeal Father is the Supreme Father, the Supreme Soul. He comes and teaches you. You receive the inheritance from Him. He has to teach you Raja Yoga. There is no question of inspiration in this. It is impossible that a teacher would teach you from his home. Baba says: I come. There is also a temple built to Me. The incorporeal One cannot do anything alone and this is why He has to take a body. Otherwise, how would I teach you the knowledge of the world cycle that I have? I definitely have to enter a body. The number of children continues to grow; they continue to bring others. The sapling of those who belong to the deity religion will be planted. The sapling is planted of those who come and become Brahmins. The Father of Brahmins is Brahma and the Father of Brahma is Shiv Baba. So, there is the spiritual Father and also the physical father. You are the spiritual children of Shiv Baba and the Brahma soul is also a child of Shiv Baba. Then he is also the father of physical Brahmins. It is through him that the Brahma Kumars and Kumaris emerge. You are the children of Brahma and the grandchildren of Shiv Baba. You receive the inheritance from Him. This too is something to be understood. If any child asks Baba what status he would claim, Baba would tell him. Some bring new ones, don’t even ask! Sometimes, the arrow strikes the target the first time they meet. Children write very good letters: Baba, So-and-so related such good things that I had firm faith that You have now come; I will definitely claim my full inheritance from You. When children who have never even met Baba write such letters, it is understood that they are long-lost and now-found children, that that one is a good sapling and able to understand quickly. When the Shrinagar centre opened, the new children there wrote letters: Now, there is the attraction to meet You, but there are these bondages. They even write their reasons. Only those who belong to the deity religion will come. Only those who are to go to the land of Shri Krishna will come on to the land of Brahma, not the land of brahm (brahmpuri). Some people write, “Brahm Kumaris”, but that is wrong. Brahm is the element of light. How could there be a kumari of the element of light? Prajapita Brahma is well known. The Father of Humanity would exist here, would he not? The children of Prajapita Brahma, the Brahma Kumars and Kumaris, means the Shaktis of the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. You receive power from Shiv Baba, not from the soul of this one (Brahma). Therefore, you have to remember Shiv Baba. It is by doing this that we will become pure from impure. At this time, all are sinful souls. Everyone takes birth through vice. Some understand these things very quickly whereas others don’t understand these things at all. This knowledge is so wonderful. God has to come to give you the fruit of your devotion. He teaches you children. He says: I am your Father, Teacher and also the Satguru. I have come to take all of you back home. Therefore, He is also called the Liberator. He will not liberate anyone through inspiration. Growth takes place in schools too. However, if you remember the old world, you forget the Father. By gradually forgetting, you will eventually go back to the old world. Then, nothing of knowledge will remain. The deal will be cancelled. That’s it! They take back whatever they gave to the Father; the intellects become completely locked. The Father is the Intellect of the Wise. He explains to you so clearly. You can tell from the eyes and features of those listening to what extent they are imbibing this and whether they will be able to claim a high status or not. Baba quickly understands whether they will understand or not and whether their intellects’ yoga is wandering somewhere. Their pulses are felt. Someone who feels the pulse of others has to be clever. The destination is very high. You will quickly understand whether someone will be able to be uplifted or not; it is numberwise. Although this one (Brahma) is Brahmaputra (big river), he will not praise himself. Saraswati is also clever. In those studies, the examinations take place here. The examination of this study will not take place now. Continue to drink the nectar of knowledge for as long as you live. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Don’t be influenced by any old habits and thereby perform wrong actions. Renounce the habit of body consciousness and complete the course of remaining soul conscious.
  2. Never fluctuate in your faith. For as long as you live, you have to study and teach others.
Blessing: May you play an all-round part, the same as the Father, with your flying stage as a ruler of the globe.
Just as the Father is an all-round actor – He can be the Friend and also the Father, in the same way, those with a flying stage will be able to play their part s perfectly any time there is a need for any type of service. This is called being an all-round flyingbird. They would be free from bondage to such an extent that they would go to wherever there is service to be done. They will be successful in every type of service. They are called rulers of the globe, all-round actors.
Slogan: Be faithful and keep the specialities of one another in your awareness and the gathering will then be united.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 1 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 August 2018

To Read Murli 31 July 2018 :- Click Here
01-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

मीठे बच्चे – निश्चयबुद्धि विजयन्ती, निश्चय के आधार पर ही स्वर्ग की राजाई के लायक बन सकते, पहला निश्चय चाहिए कि भगवान् टीचर बनकर हमें पढ़ा रहे हैं।
प्रश्नः- बाप सर्वशक्तिमान होते भी सब कार्य प्रेरणा से क्यों नहीं करते?
उत्तर:- बाबा कहते – मैं ज्ञान का सागर हूँ, मुझे ज्ञान सुनाने के लिए आना ही पड़ेगा। प्रोफेसर अगर घर में बैठ जाए तो पढ़ा कैसे सकेगा? मुझे तो तुम बच्चों को पढ़ाकर लायक बनाना है, स्वर्ग का वर्सा देना है इसलिए मैं शरीर का आधार लेकर आता हूँ। इसमें बच्चों को जरा भी संशय नहीं आना चाहिए।
गीत:- जो पिया के साथ है…….. 

ओम् शान्ति। बाप को पिया कहा जाता है। बाप पानी की बरसात तो नहीं बरसायेंगे। यह तो समझने की बात है। जब कोई बात नहीं समझते हैं तो कहा जाता है तुम तो जैसे पत्थरबुद्धि हो। अब पारसनाथ तो नामीग्रामी है। पारसनाथ पारस बनाते हैं। पत्थर कौन बनाते हैं? पत्थरनाथ बनाने वाला रावण को कहा जाता है। तुम हो राम सम्‍प्रदाय, तुम नम्बरवार पत्थरबुद्धि से पारसनाथ बनते जाते हो। यथा राजा-रानी तथा प्रजा पारसबुद्धि कैसे बनें? जरूर कोई बनाने वाला है, जिसने पारसबुद्धि तो बनाया परन्तु इसमें कोई सूर्यवंशी घराने में, कोई चन्द्रवंशी घराने में, कोई दास-दासी बनेंगे, कोई फिर प्रजा में साहूकार बनेंगे। है सारा पुरुषार्थ पर। जरूर परमपिता परमात्मा को ही पारसनाथ कहेंगे। कोई मनुष्य को ज्ञान सागर नहीं कहेंगे। निराकार बाप की ही महिमा है। ज्ञान सागर है तो ज्ञान सुनाने के लिए उनको शरीर जरूर चाहिए। जो संस्कार ले जाते हैं उस अनुसार कर्म करने लिए शरीर तो चाहिए ना। वह तो है निराकार परमपिता परमात्मा। उनकी बड़ी भारी महिमा है। सबका बाप एक निराकार परन्तु वह भी तो आत्मा है ना। आत्मा ही आरगन्स द्वारा कहती है यह मेरे बच्चे हैं।

बाप ने समझाया है मनुष्य ब्राह्मणों को खिलाते हैं, उनमें आत्मा को बुलाते हैं फिर उनसे पूछते हैं। अच्छा, न भी पूछें, ब्राह्मण तो खिलाते हैं ना। समझो किसका पति मर जाता है तो कहते हैं मैं पति का श्राद्ध खिलाती हूँ। अच्छा, तुम्हारा पति तो मर गया फिर किसको बुलायेंगी? आत्मा को वा शरीर को? समझ की बात है ना। जरूर आत्मा को बुलायेंगी ना। शरीर तो खत्म हो गया। ब्राह्मण को खिलाते हैं, गोया ब्राह्मण में प्रवेश कर आत्मा खाती है। अब क्या सबूत है जो मर गया उसकी आत्मा आती है? आती तो जरूर है। आत्मा आकर बोलती है, उनसे पूछते हैं फलानी चीज कहाँ रखी है तो बतलाती भी है। तो जरूर समझते हैं कि हम पति की आत्मा को खिलाती हूँ, पति की आत्मा को माथा टेकती हूँ। ब्राह्मण को नहीं देखते। जैसे कि पति के नाम-रूप को देखकर माथा टेकते हैं। वह नाम-रूप तो भस्म हो गया तो वह शरीर भी याद आता है। ब्राह्मणों में आत्मा आती है। दूसरे की आत्मा आई है, यह महसूस होता है। अब आत्मा आई तो जरूर विश्वास रखना पड़ता है ना। तुम बच्चों को भी समझाया जाता है कि परमपिता परमात्मा है निराकार, उनको अपना शरीर नहीं है तो वर्सा कैसे देवें? तो जरूर शरीर का आधार लेना पड़े। पहले तो बरोबर निश्चय चाहिए कि परमपिता परमात्मा है, वह इन द्वारा वर्सा देने आया है। प्रेरणा से तो नहीं देंगे। उनको तो आकर पढ़ाना है, ज्ञान सागर है ना। यह समझने की बातें हैं। जिसकी तकदीर में भविष्य ऊंच प्रालब्ध नहीं है तो वह समझ नहीं सकेंगे। इनकी आत्मा कहती है कि मैं ज्ञान सागर नहीं हूँ। वह परमपिता परमात्मा कहते हैं मैं ज्ञान का सागर हूँ, परन्तु मैं निराकार ऊपर से बैठ प्रेरणा से कैसे पढ़ाऊं? ऐसे तो कभी पढ़ाई होती नहीं। प्रोफेसर घर बैठ जाए तो प्रेरणा से पढ़ा सकेंगे क्या? जरूर स्कूल में आना पड़े ना। परमपिता परमात्मा भी घर में रहकर तो नहीं पढ़ायेंगे ना। प्रेरणा से चित्र थोड़ेही समझाया जाता है। यह चित्र भी शिवबाबा ने निकलवाया है। फिर खुद ही आकर समझाते हैं कि मैंने ही निकलवाये हैं। यह (ब्रह्मा) तो जानता ही नहीं था। मैंने बच्चों को दिव्य दृष्टि देकर बनवाये हैं। करनकरावनहार बाप है। पहले बाप समझाते हैं कि मैं हूँ तुम आत्माओं का बाप। नहीं तो तुम बच्चों को वर्सा कैसे मिले? मन्दिर भी बरोबर हैं। इनकी आत्मा का मन्दिर है। बाकी सब जीव आत्माओं के मन्दिर हैं क्योंकि जीव आत्मा जन्म-मरण में आती है, परमात्मा नहीं आता है। तो उनका रूप निराकार ही रखा है। तो बाप कहते हैं मैं तुम्हें राजयोग सिखलाता हूँ। यह बाबा भी कहते – मैं भी सीख रहा हूँ। अब इसमें प्रेरणा वा शक्ति की तो बात नहीं है। अगर कोई कहे कि शक्ति आती है तो वर्सा कैसे मिलेगा? यह बाप तो कहते हैं मैं तुम्हें राजयोग सिखलाता हूँ। भगवानुवाच है तो जरूर शरीर में आना पड़े। ऐसे नहीं कि इनमें शक्ति है। यहाँ तो पढ़ाई की बात है। मैं तुम्हारा बाप हूँ फिर मुझे टीचर भी बनना पड़े। सबको प्रेरणा कैसे दूँ? फिर तो सबको एक जैसा पढ़ाना पड़े। यह तो राजधानी स्थापन हो रही है। कोई को दास-दासी बनना पड़े, कोई को प्रजा बनना पड़े। कोई भी अगर पूछना चाहते हैं तो बाबा से पूछ सकते हैं – हम कहाँ तक लायक बने हैं? सूर्यवंशी वा चन्द्रवंशी वा दास-दासी बनेंगे? अगर हम इस समय शरीर छोड़ें तो क्या पद पायेंगे? बाबा से आकर पढ़ें तो बाबा पढ़ाई के अनुसार बता सकते हैं। स्कूल में बच्चे मास्टर को कहेंगे कि मास्टर जी हम कितने मार्क्स से पास होंगे? मास्टर एबाउट बता देगा कि तुम पूरा पढ़ते नहीं हो इसलिए इतने मार्क्स कैसे मिलेंगे? खुद भी समझेंगे कि बरोबर हम पूरा पढ़ता नहीं हूँ। हरेक की दिल बोलेगी। बेहद का बाप भी बता सकते हैं कोई को तो बाबा कहते हैं तुम बहुत अच्छा फूल हो, विजय माला में तुम इतने नम्बर में आ सकते हो, इस समय के अनुसार क्योंकि चलते-चलते गिर भी पड़ते हैं ना। बाबा के बहुत बच्चे देखो आज हैं नहीं क्योंकि श्रीमत पर न चले और काम के वश वा देह-अभिमान के वश हो गये, कोई लोभ-मोह के वश हो गये। माया ऐसी है जो चोरी भी करा देती है। यह सब माया कराती है। कहते हैं ना कि कख का चोर सो लख का चोर।

कोई-कोई में बुरी आदतें होती हैं, कोई में काम की आदत होती तो यह भागा। वह यहाँ ठहर न सके। लोभ वश चोरी भी कर लेते हैं। माया चोरी कराती है, माया की प्रवेशता है ना। पहले नम्बर देह-अभिमान को छोड़ते नहीं। बाबा कहते हैं अपने को आत्मा निश्चय करो। आत्मा इमार्टल है, शरीर मार्टल है। तुम देही-अभिमानी बनो। कोई तो दो-तीन मास में देही-अभिमानी बन जाते हैं, कोई फिर 25 वर्ष में भी नहीं बनते। एक ही कोर्स बहुत बड़ा है जो 50-60 वर्ष चलता है। पढ़ाई के कोर्स और पढ़ाने वाले टीचर को न जाना तो पढ़ेगा क्या? इस बाबा को जानने से तो शिवबाबा को भी जानें, जिसके साथ बुद्धियोग लगाना है। हमें विश्व का मालिक बनना है सो कोई मनुष्य तो नहीं बनायेंगे। जब तक निश्चय नहीं हुआ है तब तक गोया कुछ भी नहीं समझा है। 20-25 वर्ष वालों को भी पूरा निश्चय नहीं बैठा है। हिलते रहते हैं। अभी-अभी निश्चय, अभी-अभी संशय। बाबा समझाते हैं तुम गॉड फादर कहते हो तो तुम आत्मायें उनके बच्चे ठहरे। वह तुम्हारा बाप है। सब लिखो कि हाँ, हमारा एक वही गॉड फादर है। फादर से वर्सा मिलता है स्वर्ग की राजधानी का, तो जरूर राजयोग सिखाया होगा ना। बाप ही सिखलायेंगे। जब तक बाप पर पूरा निश्चय नहीं है तो समझो वह स्वर्ग के लायक नहीं हैं। बाप को ही नहीं जानते तो वर्सा कैसे पायेंगे? बाप तो आते हैं वर्सा देने, परन्तु लेते नहीं क्योंकि भाग्य में नहीं हैं। निश्चयबुद्धि विजयन्ती, संशयबुद्धि विनशन्ती। पहले-पहले बाप को तो जानो। निराकार बाप परमपिता परमात्मा है ना। वह आकर पढ़ाते हैं। वर्सा उनसे मिलता है। उनको राजयोग सिखलाना है, इसमें प्रेरणा की तो कोई बात ही नहीं। टीचर घर में बैठ पढ़ाये – यह तो इम्पासिबुल है। बाबा कहते हैं कि मैं आता हूँ, मेरा मन्दिर भी है। निराकार तो कुछ कर न सके इसलिए शरीर लेना पड़ता है। नहीं तो मेरे में जो सृष्टि चक्र का ज्ञान है वह मैं सिखलाऊं कैसे? जरूर तन में आना पड़े। बच्चे वृद्धि को पाते रहते हैं। एक-दो को लेकर आते रहते हैं। जो देवी-देवता धर्म का होगा उसका ही सैपलिंग लगेगा। जो आकर ब्राह्मण बनते हैं, उन्हों का ही कलम लगता है। ब्राह्मणों का पिता है ब्रह्मा। ब्रह्मा का बाप है शिवबाबा। तो रूहानी बाप और जिस्मानी बाप भी है। तुम शिवबाबा के रूहानी बच्चे हो और ब्रह्मा की आत्मा भी शिवबाबा का बच्चा है। फिर जिस्मानी भी ब्राह्मणों का बाप है, जिससे यह ब्रह्माकुमार-कुमारियां निकले। तुम ब्रह्मा के बच्चे शिवबाबा के पोत्रे हो। वर्सा उनसे मिलता है। यह भी समझ की बात है। बाबा से कोई भी बच्चा पूछे कि मैं किस पद को पाऊंगा तो बाबा बता देंगे।

कोई नये-नये को ले आते हैं, बात मत पूछो। एक बार मिलने से ही तीर लग जाता है। कैसे अच्छे-अच्छे पत्र लिखते हैं – बाबा फलाने ने ऐसी अच्छी बातें सुनाई जो पक्का निश्चय हो गया है, अब आप आये हो, आपसे हम पूरा वर्सा लेकर ही छोड़ेंगे। बाबा से कभी मिले भी नहीं हैं तो भी ऐसे-ऐसे पत्र लिखते हैं तो समझा जाता है यह सिकीलधा बच्चा है। सैपलिंग अच्छा है, झट समझ जाते हैं। श्रीनगर का सेन्टर खुला, वहाँ के नये-नये बच्चों ने पत्र लिखा है – बस, अब तो मिलने लिए अट्रैक्शन रहती है। सिर्फ यह बन्धन है। कारण भी लिख देते हैं। जो देवता धर्म के होंगे वही आयेंगे। जो श्रीकृष्ण पुरी में आने वाले होंगे वही ब्रह्मापुरी में आयेंगे। ब्रह्मपुरी नहीं। कोई-कोई ब्रह्मकुमारी लिखते हैं। यह तो रांग है। ब्रह्म तो तत्व है। उसकी कुमारी कैसे होगी? प्रजापिता ब्रह्मा तो मशहूर है। प्रजापिता तो यहाँ ही होगा ना। प्रजापिता ब्रह्मा के बच्चे ब्रह्माकुमार-कुमारियां अर्थात् परमपिता परमात्मा शिव की शक्तियां। शक्ति मिलती है शिवबाबा से, इनकी (ब्रह्मा की) आत्मा से नहीं। तो याद शिवबाबा को करना है। इससे ही हम पतित से पावन होंगे। इस समय तो सभी पाप आत्मायें हैं। सभी का जन्म विकार से होता है। यह बातें कोई झट समझ जाते हैं, कोई तो कुछ भी समझते नहीं। यह नॉलेज बड़ी वन्डरफुल है। भगवान् को भक्ति का फल देने के लिए आना पड़ता है। बच्चों को पढ़ाते हैं, कहते हैं मैं तुम्हारा बाप भी हूँ, टीचर भी और सतगुरू भी हूँ। सभी को वापिस ले जाने के लिए आया हूँ इसलिए लिबरेटर भी कहते हैं। सो प्रेरणा से थोड़ेही लिबरेट करेंगे। स्कूल में भी वृद्धि होती है। लेकिन पुरानी दुनिया को याद किया तो बाप को भूले। आखिर भूलते-भूलते पुरानी दुनिया में ही चले जाते हैं। फिर ज्ञान का कुछ भी नहीं रहता है। बस, सौदा कैंसिल। बाप को जो दिया वह वापिस ले लेते हैं। बुद्धि का ताला एकदम बन्द हो जाता है। बाप बुद्धिवानों की बुद्धि है ना। कितना अच्छी रीति समझाते हैं। सुनने वालों के नैन-चैन से ही मालूम पड़ जाता है – इनको कहाँ तक धारणा होती है? ऊंच पद पा सकेंगे वा नहीं? बाबा झट समझ जाते हैं कि यह समझने वाला है या नहीं? या बुद्धियोग कहाँ भटकता रहता है? नब्ज देखी जाती है। नब्ज देखने वाला भी होशियार चाहिए। मंजिल है बहुत भारी। तुम झट समझ जायेंगे – यह उठ सकेगा वा नहीं? नम्बरवार तो हैं ना।

भल यह ब्रह्मा ब्रह्मपुत्रा (बड़ी नदी) है, परन्तु अपनी महिमा तो नहीं करेंगे। सरस्वती भी होशियार है। उस पढ़ाई में तो यहाँ ही इम्तहान हो जाता है। इस पढ़ाई का इम्तहान अभी नहीं होना है। जब तक जियेंगे तब तक ज्ञानामृत पियेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) किसी भी पुरानी आदत के वशीभूत हो उल्टा कर्म नहीं करना है। देह-अभिमान की आदत को छोड़ देही-अभिमानी रहने का कोर्स पूरा करना है।

2) निश्चय में कभी भी हिलना नहीं है। जब तक जीना है, पढ़ाई पढ़नी और पढ़ानी है।

वरदान:- उड़ती कला द्वारा बाप समान आलराउन्ड पार्ट बजाने वाले चक्रवर्ती भव
जैसे बाप आलराउन्ड पार्टधारी है, सखा भी बन सकते तो बाप भी बन सकते। ऐसे उड़ती कला वाले जिस समय जिस सेवा की आवश्यकता होगी उसमें सम्पन्न पार्ट बजा सकेंगे। इसको ही कहा जाता है आलराउन्ड उड़ता पंछी। वे ऐसे निर्बन्धन होंगे जो जहाँ भी सेवा होगी वहाँ पहुंच जायेंगे। हर प्रकार की सेवा में सफलतामूर्त बनेंगे। उन्हें ही कहा जाता है चक्रवर्ती, आलराउन्ड पार्टधारी।
स्लोगन:- एक दो की विशेषताओं को स्मृति में रख फेथफुल बनो तो संगठन एकमत हो जायेगा।
Font Resize