BRAHMAKUMARIS Aaj Ka Purusharth 22 JANUARY 2018 – आज का पुरूषार्थ

To Read 21 January Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

Om Shanti
22.01.2019

★【 आज का पुरूषार्थ】★

बाबा कहते हैं … बच्चे, आपने जो भी कार्य करना हो, बेफिक्र होकर करो। 
बस आप परमात्मा बाप को हर पल अपने साथ रखो। बाप अपने सपूत बच्चों को किसी भी काम की मना नहीं करता है, और बाप अपने सपूत बच्चों पर 100% निश्चय रख, उन्हें विशेष पालना दे, उन्हें पढ़ाई पढ़ाता है। 
क्योंकि बाप को पता है – यही मेरे विश्व-परिवर्तक बच्चे हैं…। 
और जिस तरह बाप आप बच्चों पर निश्चय रख निश्चिन्त रहता है, ऐसी ही अवस्था आप बच्चों की भी होनी चाहिए…!

देखो बच्चे, बाबा बार-बार कहता है कि इस समय drama की हर scene में आपका ही कल्याण समाया हुआ है और जब हर बात में है ही कल्याण तो आपको असोचता और हल्का रहना चाहिए ना…!

सोचो तो सही इतनी ऊँची बात कौन कह रहा है…?
स्वयं परमपिता परमात्मा … जिसे दुनिया ढूंढ रही है और वो आपके पास आ आपकी पालना कर आपको अपने लक्ष्य तक पहुँचाने में आपकी मदद कर रहा है…!
तो फिर आप भी तो निश्चय रखो ना…!

निश्चय रखने पर ही निश्चिन्त स्थिति होगी, नहीं तो मन सोच-सोच कर भारी हो जायेगा…।

लौकिक में भी जब हर कार्य ठीक रीति या कल्याणकारी रीति से चल रहा हो तो वो जीव आत्मा खुश रहती है और कार्य को आगे बढ़ाती है … और उसे अपने हर कार्य में सफलता भी मिलती है।

और यहाँ तो भगवान स्वयं आकर आप बच्चों को कह रहा है कि बच्चे निश्चिन्त रहो…, आपके हर कार्य को बाप कल्याण से भर देगा, चाहे इस समय वो आपको अकल्याणकारी लग रहा हो … परन्तु आप इसमें अपना 100% कल्याण समझो क्योंकि इस समय बाप आपका ज़िम्मेवार बना है … और बस आप अपना 100% attention स्वयं पर दे मंज़िल पर पहुँचो … अन्यथा समय बीत जाने पर आप अपने ज़िम्मेवार स्वयं होंगे…!

हल्के रह drama के हर scene को साक्षी होकर देखो, और उसे बाप को समर्पण करने का पुरूषार्थ करते रहो। बस इतना-सा attention रखने पर भी बाप आपको full सहयोग देगा … और बहुत ही थोड़े से थोड़े समय में बाप की कमाल पर कमाल शुरू हो जायेगी…।

बस, बाप की कमाल देखने के लिए निश्चिन्त अवस्था अत्यधिक ज़रूरी है।

अच्छा। ओम् शान्ति।

【 Peace Of Mind TV 】
Dish TV # 1087 | Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 |
Jio TV |

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Font Resize