BRAHMAKUMARIS Aaj Ka Purusharth 13 JANUARY 2018 – आज का पुरूषार्थ

To Read 12 January Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

Om Shanti
13.01.2019

★【 आज का पुरूषार्थ】★

बाबा कहते हैं … धर्मराज कोई भी आत्मा वा परमात्मा नहीं है।

जिस तरह, रावण … पाँच विकारों के रूप को कहा जाता है, इसी तरह हर आत्मा के किये गये पापकर्म, धर्मराज का रूप ले लेते हैं। 
जिस कारण पापकर्म करने वाली आत्मा भयानक सज़ाओं का अनुभव करती है…!

बाप तो सभी बच्चों के लिए हमेशा कल्याणकारी रहता है – चाहे वो लौकिक हो … चाहे अलौकिक…।

देखो, सबसे पहले स्वयं के द्वारा किये गए पापकर्म स्वयं के आगे प्रत्यक्ष होंगे…, फिर अन्य आत्माओं के सामने…! जिस कारण वो बाप के सहयोग का फायदा नहीं उठा पायेंगी…!
अर्थात् उनके पापकर्म ही उनको बाप से साक्षी कर देते हैं। 
जिस कारण उनकी भोगना और बढ़ जाती है और यह वो आत्मायें होती है;
• जो बाप के प्यार के आधार को छोड़ दूसरे-दूसरे आधार पर चलती हैं।
• स्व-परिवर्तन की बजाए अन्य आत्माओं का परिवर्तन करना चाहती हैं। 
• सुखकर्ता की बजाए दुःखकर्ता बन जाती है अर्थात् dis-service के निमित्त बन जाती है…।
यही कर्म उनकी सज़ाओं के निमित्त बनते हैं, और यह कार्य शुरू हो चुका है … अर्थात् जो कहते हो ना कि सद्गुरू का role शुरू हो जायेगा … वो हो चुका है…।

कोई भी कार्य पहले slow होता है, फिर जल्दी वो प्रत्यक्ष रूप में दिखने लगता है…!

अष्ट रत्न … सौ रत्न … अर्थात् सभी माला के दाने स्वयं के पुरुषार्थ अनुसार स्वयं ही प्रत्यक्ष होते हैं, जोकि सभी आत्माओं को मान्य होते है।

बाप का कार्य सभी आत्माओं को केवल प्यार, रहम, कल्याण की भावना से मुक्ति और जीवनमुक्ति देने का है। 
परन्तु, सभी अपने मन्सा-वाचा-कर्मणा द्वारा नम्बरवन और नम्बरवार बनते हैं…।

अच्छा। ओम् शान्ति।

【 Peace Of Mind TV 】
Dish TV # 1087 | Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 |
Jio TV |

1 thought on “BRAHMAKUMARIS Aaj Ka Purusharth 13 JANUARY 2018 – आज का पुरूषार्थ”

  1. Har Atma ne Kiye Hue VIKARMA Arthat DEH-BHAN ME AAKAR Kiye Hue KARMA JISE PAAP-KARMA KAHA JATA HAE ,WOHI KARMA DHARMARAJ BAN ANT SAMAY SJAEN DETE HAEN. Ye GUHYA RAHASYA BABA ne Udghatit kiya hae. ISLIYE Har Karma BABA kara raha hae IESI AGAR BUDDHI ME NIRANTAR SMRUTI RAKHTE HUE HAR KARMA KARNE SE PAHLE BABA KO MAN-HI-MAN BATA KE KARNE KI AADAT (HABIT) DALE TO DOUBLE FAYDA HOGA – BABA KI YAAD SE PURANE VIKARMA DAGDHA HOTE JAYENGE AUR NAYE VIKARMA BANENGE BHI NAHI. Om Shanti.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Font Resize