BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 4 DECEMBER 2018 – Aaj Ka Purusharth

Om Shanti
04.12.2018

★【 आज का पुरूषार्थ】★

बाबा हमेशा कहता है कि;
किसी भी प्रकार की हलचल को देख हलचल में मत आओ। फिर भी आप बच्चे हलचल में आ जाते हो…, क्यों…?

क्योंकि अभी तक मेरा-मेरा बहुत ज्यादा है और यह मेरा-मेरा ही दुःख और अशान्ति का कारण है।

देखो, जबकि आप बच्चे अब संगम के भी अन्तिम चरण में हो जोकि आगे चलकर अर्थात् बहुत थोड़े से थोड़े समय में हाहाकार वाला होगा।

उस scene को देखने और सामना करने की शक्ति बहुत थोड़े से बच्चों में होगी, जिन्होंने 100% बाप की श्रीमत को पालन करने का पुरूषार्थ किया होगा, केवल उनमें…।

जबसे बाबा आया है, तबसे यही कह रहा है कि हर जगह से बुद्धि निकाल लो … अन्यथा यह तन, मन, धन, जन, सुख, सुविधा … सब, आपको ना चाहते हुए भी बुरी तरह से अपनी तरफ खींचेंगे…।

क्योंकि अन्तिम समय प्रकृति के पाँच तत्व और पाँच तत्वों से बना यह सारा संसार बुरी तरह से हलचल में होगा और ऐसे समय में अचल स्थिति में वो ही स्थित रह सकेगा जिसमें एक तो सम्पूर्ण रीति समर्पण भाव होगा, दूसरा अशरीरी बनने का full अभ्यास होगा।

इसलिए अब अपनी तरफ attention बढ़ाओ। अपने हर संकल्प को खुद check करो कि आपके संकल्प किस दिशा में जा रहे हैं…? 
और अन्त के समय में कोई भी बहानेबाज़ी नहीं चलेगी…!

इसलिए इन सब अर्थात् देह और देह से सम्बन्धित हर चीज़ से 100% न्यारे हो सारी अर्थात् सम्पूर्ण ज़िम्मेवारी बाप को सौंप दो। इसमें अलबेले मत बनना अन्यथा बहुत पछताना पड़ेगा…।

100% समर्पण बुद्धि वाले बच्चों के साथ बाप (परमात्मा शिव) का भी 100% promise है कि अन्त के समय में भी जब दुनिया हाहाकार में होगी, पर बाप के बच्चे मौज में होंगे…।

बाप पर निश्चय रखो और स्वयं को 100% बाप हवाले कर अर्थात् बाप जहाँ बिठायें, जो खिलायें, बाबा आपकी मर्ज़ी … और अपनी मन-बुद्धि को बाप की याद में, बाप के प्यार में लगा दो।

अपने पूरे कल्प के इस महत्वपूर्ण समय के महत्व को समझ अपना एक-एक second सफल करो, क्योंकि त्याग के आगे प्राप्ति पदमगुणा ज्यादा है।

करना भी कुछ नहीं है – बस समर्पण हो जाओ…।

हर कमज़ोर संस्कार, संकल्प सबकुछ बाबा को बार-बार देने का पुरूषार्थ बढ़ाते जाओ। आपके इस पुरूषार्थ से ही बाप समय आने पर आपको बिल्कुल हल्का कर देगा और आपकी ऊँच प्रालब्ध भी बना देगा।

बस attention देना है…,
• हल्के रहना है
• ना ही अलबेले होना है 
और 
• ना ही दिलशिकस्त 
और
• ना ही हार खानी है…।

अच्छा। ओम् शान्ति।

【 Peace Of Mind TV 】
Dish TV # 1087 | Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 |

" omshanti1 : ."