Brahmakumaris Daily Mahavakya 29 September 2017

To Read 28 September Mahavakya :- Click Here

29.09.2017
ओम शान्ति।
बच्चे, अब आप सब आत्माओं को परमपिता परमात्मा के साथ अटूट सम्बन्ध निभा वरदानी मूर्त बनना है। वरदानी मूर्त बच्चे ही बाप को प्रत्यक्ष करेंगे और जो बच्चे बेफिक्र बादशाह और हल्के होंगे, उनका ही बाप के साथ सम्बन्ध अटूट होगा।

अब आप बच्चों को सदा स्वयं पर attention रख स्वयं को check करना है कि मैं शान्त स्वरूप और हल्का हूँ…? क्योंकि हल्की आत्मा ही बाप के समीप पहुँच बाप-समान बन पायेंगी और किसी भी तरह के बोझ वाली आत्मा का खिंचाव धरती की तरफ होगा। फिर बताओ, वह बाप-समान कैसे बनेंगी…? इसलिए अब बाप की श्रीमत प्रमाण पुरूषार्थ कर बाप-समान बनो।

अब यह ही थोड़े का भी थोड़ा समय है… ‘‘अभी नहीं तो कभी नहीं…।’’

यह बाप का प्यार कहो … पढ़ाई कहो … तपस्या कहो … यह सब बाप-समान बनाने के लिए ही है। यदि आपके अन्दर ज्ञान-गुण-शक्तियां बाप-समान नहीं आ रही है … चाहे कोई भी कारण है, इसका मतलब आपके अन्दर अलबेलापन है, इसलिए बहुत समझदारी के साथ स्वयं की checking कर स्वयं को बाप-समान बनाओ। यदि आप हर पल हल्के, बेफिक्र, सन्तुष्ट और खुश रहते हो, तो इसका मतलब आपका connection बाप के साथ है ही है। इस प्रकार की आपकी checking हर पल की होनी चाहिए अर्थात् सदा, मतलब हर स्थिति और परिस्थिति के समय।

हल्का अर्थात् किसी भी प्रकार की कोई भी आसक्ति नहीं … बेफिक्र, चिन्तामुक्त, समर्पण भाव, सन्तुष्ट, स्वयं से … बाप से … अन्य आत्माओं से … NO COMPLAINT …। खुश अर्थात् मान-अपमान, निन्दा-स्तुति अर्थात् हर परिस्थिति में भी खुश।

अच्छा । ओम् शान्ति ।

Sachin Bhai class ~ खाओ खाओ पेट बलावो | 27 September 2017

 

Peace Of Mind TV
Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 | Reliance # 640 | 
Jio TV |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Font Resize