BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 13 OCTOBER 2017

To Read 12 October Mahavakya :- Click Here

*Om Shanti*
*13.10.2017*

बच्चे, बाप ने आप सबको बहुत महीनता से सारी पढ़ाई पढ़ा दी है ताकि आप सहज रीति अपने लक्ष्य तक पहुँच सको परन्तु पढ़ना तो आप बच्चों को ही है। बाबा ने तो विस्तार में आप बच्चों को बता ही दिया है कि जब तक सम्पन्न नहीं बनोंगे तब तक परिस्थितियाँ आती रहेगी। परन्तु आप बच्चों को ऊँच स्वमान में रह, शिव बाप को संग रख हर paper को हल्का कर देना है, और जिन बच्चों ने इसका अभ्यास किया है वो powerful बन इन परिस्थितियों को सहज ही पार कर रहे हैं और बहुत थोड़े से थोड़े समय में उनकी प्राप्तियाँ और बढ़ जायेगी।

बाप तो पढ़ा सभी बच्चों को रहा है, सो इस पढ़ाई की importance को समझ इसे अपनी दिनचर्या में apply करो। सबकुछ अर्थात् परिस्थितियों के साथ-साथ अपना स्वभाव भी बाप को समर्पित करो … स्वयं पर attention रख बार-बार करो … रूहानी drill करो … बाप के संग रहने की भिन्न-भिन्न युक्तियां use करो।

जब आप निमित्त बन बाप की याद में बैठ जाते हो तो आपका सूक्ष्म स्वरूप तैयार होना शुरू हो जाता है। बस दृढ़ता पूर्वक जितना समय fix करते हो उतना समय बैठो। यदि इस यात्रा में थक जाओगे या घबराओगे तो आपकी यात्रा stop हो जायेगी। फिर आप मंज़िल पर कैसे पहुँचोगे…?

बस बच्चे अपनी मन-बुद्धि पर attention ही तो रखना है और दृढ़तापूर्वक बाप की याद में बैठना है। 
देखो, प्राप्तियां अपरमअपार है और जो बच्चे हार कर बैठ जायेंगे उनका पश्चाताप भी अपरमअपार है … क्योंकि इस मार्ग पर करना कुछ भी नहीं है … एक तो attention रखना है … और दूसरा दृढ़तापूर्वक चलना है। इसलिए स्वयं पर निश्चय रखकर चलो।

बहुत थोड़े से थोड़े समय में इस मार्ग में परिस्थितियों का force बढ़ जायेगा। इस कारण आत्मायें स्वयं में उलझ जायेगी और चाह कर भी बाप को साथ नहीं रख पायेंगी। फिर देखो जबकी अभी समय है तब भी बाप का सहयोग नहीं ले पा रहे हैं, तो आगे कैसे लेंगे…?

इसलिए दृढ़तापूर्वक स्वयं पर attention रखो क्योंकि आप स्वयं के साथ कई आत्माओं के ज़िम्मेवार हो।

अच्छा । ओम् शान्ति ।

 *Peace Of Mind TV* 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Font Resize