omshanti1

TODAY MURLI 6 MARCH 2021 DAILY MURLI (English)

06/03/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to become charitable souls, remember the one Father. It is only by having remembrance that the alloy will be removed from you and you souls will become pure.
Question: Which awareness should you have so that you never become confused about anything?
Answer: The awareness of the drama. Whatever is taking place is predestined; nothing will be created now. The eternal drama continues to turn. There is no need to be confused about anything in this. Some children say, “I don’t know whether this is my last, my 84th birth, or not,” and become confused. Baba says: Don’t be confused. Make effort to change from a human into a deity.

Om shanti. You children know the meaning of “Om shanti”, that I am a soul and that the original religion of myself, the soul, is peace. I, the soul, am an embodiment of peace, a resident of the land of peace. Continue to make this lesson firm. Who is explaining this to you? Shiv Baba. It is Shiv Baba that you have to remember. He doesn’t have a chariot of His own. This is why they have shown Him on a bull. They have even placed a bull in temples. That is called complete ignorance. The Father is explaining to the children, the spirits. That one is Shiva, the Father of spirits. He has many names, but it is because of His having many names that people have become confused. In fact, His name is Shiva. It is in Bharat that they celebrate the birthday of Shiva. He is incorporeal Baba. He comes and purifies the impure ones. Some call him the ‘Lucky Chariot’ (Bhagirath), and some call him the Bull (Nandigan). Only the Father tells you which lucky chariot He comes in. I enter the body of Brahma. I make Bharat into heaven through Brahma. All of you people of Bharat know that it used to be the kingdom of Lakshmi and Narayan. All of you children of Bharat belonged to the original eternal deity religion. You were the residents of heaven. When I came 5000 years ago, I made all of you into the masters of satopradhan heaven. You then definitely had to take rebirth. The Father tells you everything directly. When you celebrate the birthday of Shiva, you say that it is the 85th birthday of Shiva, and that it is 85 years since Baba first came (1936-2021). Along with this, there is also the incarnation of Brahma, Vishnu and Shankar. They don’t show the birthday of Trimurti Brahma. It is essential to show this, because Baba says: I am once again carrying out establishment through Brahma. I continue to create Brahmins. Therefore, there is the birthday of Brahma and also of those who belong to the Brahmin clan. I tell you that you will then become the masters of the land of Vishnu. Only by having remembrance of the Father will your alloy be removed. Although the ancient yoga of Bharat is well known, no one knows who taught it. He, Himself, says: O children, remember your Father! You receive your inheritance from Me. I am your Father. I come every cycle. I come and change you from humans into deities because you were deities and you then became impure by taking 84 births. You are following the dictates of Ravan. By following God’s directions you become the masters of heaven. The Father says: I also came in the previous cycle. Whatever has happened will continue to take place every cycle. The Father will come and enter this one again. He will liberate this Dada. He will then have all of you sustained. You understand that only you were in the golden age. It is only we people of Bharat who have to take 84 births. At first you were full of all virtues, 16 celestial degrees full. All of you were numberwise – the king, queen and subjects. Not everyone can become a king. The Father explains: You take eight births in the golden age, 12 births in the silver age. Understand how you have played your parts in this way. You first played your parts in the sun-dynasty kingdom and then in the moon dynasty. Then you went onto the path of sin and continued to come down. You took 63 births. It is the people of Bharat who take the full 84 births. None of those of other religions take this many births. It has been 500 years since Guru Nanak existed. He must have had approximately 12 to 14 births. This calculation is made. Christians would take about 60 rebirths in 2000 years. There continues to be growth and they continue to take rebirth. Use your intellects to think about how only you take 84 births. You now have to become satopradhan again. Whatever has passed was in the drama. Whatever has been created in the drama will repeat. Baba takes you into the unlimited history. You have continued to take rebirth. You have now completed your 84 births. The Father has now reminded you again that your home is the land of peace. What is the form of a soul? A point. It is as though there is a tree of points there; there is a numberwise tree of souls. You come down numberwise. The Supreme Soul is also a point. It isn’t that He has such a big oval form. The Father says: You become My children. Therefore, I make you into the masters of heaven. First you come and belong to Me and then I teach you. You say: Baba, I belong to You. You also have to study at the same time. As soon as you belong to Me, your study starts. Baba says: This is your last birth. Become as pure as a lotus flower! Children promise: Baba, I will never become impure and I will claim my inheritance from You. We have been impure for 63 births. This is the story of 84 births. Baba comes and tells you everything just as a physical father tells you and makes it very easy. That One is the unlimited Father. He comes and speaks to you spirits, saying: Child, child! People celebrate the Night of Shiva (Shiva Ratri). There is day for half the cycle and night for half the cycle. It is now the confluence of the end of the night and the beginning of the day. When it was the golden age in Bharat it was the day. The golden and silver ages are said to be the day of Brahma. You are Brahmins, are you not? You Brahmins understand that your night is now coming to an end. Devotion is now tamopradhan. People continue to stumble to every door and continue to worship everyone. They even perform worship at the T-Junction of a road. They even worship bodies of human beings. Sannyasis say of themselves “Shivohum” (I am Shiva) and they sit down somewhere and then women go and worship them. Baba is very experienced. Baba says: I also did a lot of worshipping, but I had no knowledge at that time. I used to offer fruit and milk to human beings. That too was deception. However, it will all happen again. The Protector of the Devotees is God, because all are unhappy. The Father explains: Since the copper age, you have been adopting gurus and have continued to come down on the path of devotion. Even now, sages continue to make spiritual endeavour. The Father says: I uplift them too. You receive salvation at the confluence age and you then take 84 births. The Father is called the Ocean of Knowledge, the Seed of the human world tree, the Truth, the Sentient Being and the Embodiment of Bliss. He is never destroyed. He has knowledge in Him. He is the Ocean of Knowledge, the Ocean of Love. Therefore, you definitely have to receive the inheritance from Him. You children are now receiving the inheritance from Him. He is Shiv Baba. That One is Baba and this one is also your father. Shiv Baba teaches you through Brahma and this is why you are called Prajapita Brahma Kumars and Kumaris. There are so many BKs. They say: We receive our inheritance from our Grandfather. You children say that Baba is making you into residents of heaven from residents of hell. He says: O children, constantly remember Me alone and the burden of sins on your heads will be burnt away. You will then become satopradhan. You were pure gold and real ornaments. Both soul and body were satopradhan. Souls go through the stages of sato, rajo and tamo. Therefore, souls also receive tamoguni bodies. The Father advises you: Children, remember Me. You call out to Me: O Purifier, come! The ancient Raja Yoga of Bharat is very well known. I am now teaching you to have yoga with Me, because, by doing that, the alloy in you will be burnt away. The more you remember Me, the more the alloy will be removed. The main thing is remembrance. The Father has given you knowledge. In the golden age, kings, queens and subjects are all pure, whereas now, they are all impure. The Father says: I enter this one at the end of the last of his many births. This one is called the Lucky Chariot. This one studies and claims number one. Everyone becomes numberwise but there is one main name. The Father has explained to you children the significance of 84 births very well. You belong to the original, eternal deity religion, not the Hindu religion. You belonged to the elevated religion and you performed elevated actions. Then, when Ravan came into existence, you became corrupt in your religion and actions. You felt too ashamed to call yourselves deities and that was why you were given the name Hindus. In fact, you originally belonged to the original, eternal deity religion. You have taken 84 births and have become impure. The cycle of 84 births is for the people of Bharat. Everyone has to return home. You will go first, just like a procession. Shiv Baba is also called the Bridegroom. At this time, you brides are dirty and tamopradhan. Therefore, He will make you beautiful and take you back home. He will purify you souls and take you back home. He is called the Liberator and the Guide. The unlimited Father takes you back home. What is His name? Shiv Baba. A name is given to the body, but God’s name is just Shiva. Brahma, Vishnu and Shankar have subtle bodies. Shiv Baba does not have a body of His own. He is just called Shiv Baba. Children say: O Mother and Father, we have become Your children. Others continue to call out because they don’t know Him. If everyone were to know Him, there’s no knowing what would happen! The sapling of the deity tree is now being planted. It takes 84 births to change from a diamond to a shell. Then the cycle begins anew. The history and geography of the world will repeat. The Father explains that you have taken the full 84 births. It cannot be 8.4 million births; that is a big mistake. Because of believing there to be 8.4 million births, they have said that the duration of each cycle is hundreds of thousands of years. That is a complete lie. Bharat is now the land of falsehood. You were constantly happy in the land of truth. At this time, you are receiving your inheritance for 21 births. Everything depends on your efforts. You can claim whatever status you want in the kingdom. There is no question of magic etc. in this. Yes, you definitely do change from humans into deities and that is good magic, is it not? You understand that you become Baba’s children in a second. Every cycle, Baba makes you into the masters of heaven. You have been wandering around for half the cycle, and yet not one of you has become a resident of heaven. The Father comes and makes you children worthy. There truly was the Mahabharat War and you were taught Raja Yoga. Shiv Baba says: I, not Christ, come and teach you. It is now the end of your many births. Don’t become confused. You are residents of Bharat. Your religion is one that gives a lot of happiness. Those of other religions cannot go to paradise. This drama is eternally predestined. You cannot ask when it was created; it has no end. The history and geography of the world repeat. This is the small confluence age. Brahmins are the topknot. The Father is making you Brahmins into deities. Therefore, you definitely have to become the children of Brahma. You receive the inheritance from your Grandfather. How can you receive the inheritance until you consider yourselves to be BKs? Nevertheless, when you hear even a little knowledge, you become part of the ordinary subjects. Everyone definitely has to go there. Shiv Baba is establishing the Brahmin, deity and warrior religions through Brahma. There is no scripture apart from the Gita. The Gita is the scripture of the most elevated deity religion through which three religions are established. Brahmins are created here. It is here that you become deities. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Understand that everyone’s part is fixed and remain constantly carefree. That which is predestined is taking place. Therefore, remain unshakeable about the drama.
  2. Claim your full inheritance from the Father in this short confluence age. Remove the alloy with the power of remembrance and make yourself into a diamond from a shell. Become worthy of becoming part of the sapling of the sweet tree.
Blessing: May you be a detached observer, and even while seeing a surprising scene, make a mountain into a mustard seed.
Many new and surprising scenes will come in front of you while you are becoming complete, but let those scenes make you into a detached observer and not make you fluctuate. By seeing and deciding while seated on the seat of the stage of a detached observer, you will enjoy yourself a lot. There will then be no fear. It will be as though you are once again seeing a scene you have seen many times before. Such a soul will be raazyukt and yogyukt and make the atmosphere double light. He will experience a paper that is like a mountain to be like a mustard seed.
Slogan: Instead of being attracted by situations, be a detached observer and observe them as a game.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 6 MARCH 2021 : AAJ KI MURLI

06-03-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – पुण्य आत्मा बनना है तो एक बाप को याद करो, याद से ही खाद निकलेगी, आत्मा पावन बनेगी”
प्रश्नः- कौन सी स्मृति रहे तो कभी भी किसी बात में मूँझ नहीं सकते?
उत्तर:- ड्रामा की। बनी बनाई बन रही, अब कुछ बननी नाहि… यह अनादि ड्रामा चलता ही रहता है। इसमें किसी बात में मूँझने की दरकार नहीं। कई बच्चे कहते हैं पता नहीं यह हमारा अन्तिम 84 वाँ जन्म है या नहीं, मूंझ जाते हैं। बाबा कहते मूंझो नहीं, मनुष्य से देवता बनने का पुरूषार्थ करो।

ओम् शान्ति। बच्चों को ओम् शान्ति के अर्थ का तो पता है कि मैं आत्मा हूँ और मुझ आत्मा का स्वधर्म है शान्ति। मैं आत्मा शान्त स्वरूप, शान्तिधाम की रहने वाली हूँ। यह लेसन पक्का करते जाओ। यह कौन समझाते हैं? शिवबाबा। याद भी करना है शिवबाबा को। उनको अपना रथ नहीं है इसलिए उनको बैल दे देते हैं। मन्दिर में भी बैल रख दिया है। इसको कहा जाता है पूरा अज्ञान। बाप समझाते हैं बच्चों को अथवा रूहों को। यह है रूहों का बाप शिव, इनके नाम तो बहुत हैं। परन्तु बहुत नाम से मूंझ पड़े हैं। वास्तव में इसका नाम है शिव। शिव जयन्ती भी भारत में मनाई जाती है। वह निराकार बाबा है, आकर पतितों को पावन बनाते हैं। कोई ने भागीरथ, कोई ने नंदीगण कह दिया है। बाप ही बताते हैं कि मैं कौन से भाग्यशाली रथ में आता हूँ। मैं ब्रह्मा के तन में प्रवेश करता हूँ। ब्रह्मा द्वारा भारत को स्वर्ग बनाता हूँ। तुम सब भारतवासी जानते हो ना कि लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। तुम सब भारतवासी बच्चे आदि सनातन देवी-देवता धर्म वाले थे। स्वर्गवासी थे। 5 हजार वर्ष पहले जब मैं आया था तो सभी को सतोप्रधान स्वर्ग का मालिक बनाया था। फिर पुनर्जन्म जरूर लेना पड़े। बाप कितना सीधा बताते हैं। अब जयन्ती मनाते हो, (इस 2021 में लिखेंगे 85 वीं शिवजयन्ती), बाबा की पधरामणी हुए अभी 85 वर्ष हुए। फिर साथ-साथ ब्रह्मा विष्णु शंकर की भी पधरामणी है। त्रिमूर्ति ब्रह्मा की जयन्ती कोई दिखाते नहीं हैं, दिखाना जरूरी है क्योंकि बाबा कहता है मैं ब्रह्मा द्वारा स्थापना फिर से करता हूँ। ब्राह्मण बनाता जाता हूँ। तो ब्रह्मा और ब्राह्मण वंशियों का भी जन्म हुआ। फिर दिखाता हूँ कि तुम सो विष्णुपुरी के मालिक बनेंगे। बाप की याद से ही तुम्हारी खाद निकलेगी। भल भारत का प्राचीन योग मशहूर है परन्तु वह किसने सिखाया था, यह कोई नहीं जानते। खुद कहते हैं हे बच्चे तुम अपने बाप को याद करो। वर्सा तुमको मेरे से मिलता है। मैं तुम्हारा बाप हूँ। मैं कल्प-कल्प आता हूँ, आकर तुमको मनुष्य से देवता बनाता हूँ क्योंकि तुम देवी-देवता थे फिर 84 जन्म लेते-लेते आकर पतित बने हो। रावण की मत पर चल रहे हो। ईश्वरीय मत से तुम स्वर्ग के मालिक बनते हो।

बाप कहते हैं मैं कल्प पहले भी आया था। जो कुछ पास होता है, वह कल्प-कल्प होता ही रहेगा। बाप फिर भी आकर इनमें प्रवेश करेंगे, इस दादा को छुड़ायेंगे। फिर इन सबकी परवरिश करायेंगे। तुम जानते हो कि हम ही सतयुग में थे। हम भारतवासियों को ही 84 जन्म लेना पड़े। पहले-पहले तुम सर्वगुण सम्पन्न 16 कला सम्पूर्ण थे। यथा राजा रानी तथा प्रजा नम्बरवार। सब तो राजा नहीं बन सकते। तो बाप समझाते हैं सतयुग में तुम्हारे 8 जन्म, त्रेता में 12 जन्म… ऐसे ही अपने को समझो कि हमने यह पार्ट बजाया है। पहले सूर्यवंशी राजधानी में पार्ट बजाया फिर चन्द्रवंशी में फिर नीचे उतरते वाम मार्ग में आये। फिर हमने 63 जन्म लिए। भारतवासियों ने ही पूरे 84 जन्म लिए हैं और कोई धर्म वाले इतने जन्म नहीं लेते हैं। गुरूनानक को 500 वर्ष हुए, करीब उनके 12-14 जन्म होंगे। यह हिसाब निकाला जाता है। क्रिश्चियन ने 2 हजार वर्ष में 60 पुनर्जन्म लिये होंगे, वृद्धि होती जाती है। पुनर्जन्म लेते जाते हैं। बुद्धि में यह विचार करो तो हमने ही 84 जन्म भोगे हैं, फिर सतोप्रधान बनना है। जो कुछ पास हुआ ड्रामा। जो ड्रामा बना हुआ है वह फिर रिपीट होगा। बेहद की हिस्ट्री में तुमको ले जाते हैं। तुम पुनर्जन्म लेते आये हो। अब तुमने 84 जन्म पूरे किये हैं। अब फिर बाप ने याद दिलाई कि तुम्हारा घर है शान्तिधाम। आत्मा का रूप क्या है? बिन्दी। वहाँ जैसे बिन्दियों का झाड़ है। आत्माओं का भी नम्बरवार झाड़ है। नम्बरवार नीचे आना होता है। परमात्मा भी बिन्दी है। ऐसे नहीं कि इतना बड़ा लिंग है। बाप कहते हैं कि तुम हमारे बच्चे बनते हो तो मैं तुमको स्वर्ग का मालिक बनाता हूँ, पहले तुम हमारे बने फिर मैं तुमको पढ़ाता हूँ। कहते हो बाबा हम तुम्हारे हैं। साथ-साथ पढ़ना भी है। हमारे बने और तुम्हारी पढ़ाई शुरू हो गई।

बाबा कहते कि यह तुम्हारा अन्तिम जन्म है, कमल फूल समान पवित्र बनो। बच्चे वायदा करते हैं बाबा हम आपसे वर्सा लेने लिए कभी पतित नहीं बनेंगे। 63 जन्म तो पतित बने हैं। यह 84 जन्मों की कहानी है। बाबा आकर सहज कर बताते हैं। जैसे लौकिक बाप बताते हैं ना। तो यह है बेहद का बाप। वह आकर रूहों से बच्चे-बच्चे कह बात करते हैं। शिवरात्रि भी मनाते हैं ना। यह है आधाकल्प का दिन और आधाकल्प की रात। अभी है रात का अन्त और दिन के आदि का संगम। भारत सतयुग था तो दिन था। सतयुग त्रेता को ब्रह्मा का दिन कहा जाता है। तुम ब्राह्मण हो ना। तुम ब्राह्मण जानते हो कि हमारी अब रात्रि है। तमोप्रधान भक्ति है। दर दर धक्के खाते रहते हैं, सबकी पूजा करते रहते हैं। टिवाटे की भी पूजा करते हैं। मनुष्य के शरीर की भी पूजा करते हैं। संन्यासी लोग अपने को शिवोहम् कह बैठ जाते हैं फिर मातायें जाकर उनकी पूजा करती हैं। बाबा बहुत अनुभवी है। बाबा कहते हमने भी बहुत पूजा की है। परन्तु उस समय ज्ञान तो था नहीं। फल चढ़ाते थे, लोटी चढ़ाते थे मनुष्य पर। यह भी ठगी हुई ना। परन्तु यह सब फिर भी होगा। भक्तों का रक्षक है भगवान क्योंकि सभी दु:खी हैं ना। बाप समझाते हैं कि द्वापर से लेकर तुम गुरू करते आये हो और भक्ति मार्ग में उतरते आये हो। अभी तक भी साधू लोग तो साधना करते हैं। बाप कहते हैं कि उन्हों का भी मैं उद्धार करता हूँ। संगम पर तुम्हारी सद्गति हो जाती है फिर तुम 84 जन्म लेते हो। बाप को कहा जाता है ज्ञान का सागर, मनुष्य सृष्टि का बीजरूप। सत् चित् आनन्द स्वरूप है। वो कब विनाश नहीं होता, उनमें ज्ञान है। ज्ञान का सागर, प्यार का सागर है, जरूर उनसे वर्सा मिलना चाहिए। अभी तुम बच्चों को वर्सा मिल रहा है। शिवबाबा है ना। वह भी बाबा है, यह भी तुम्हारा बाप है फिर शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा तुमको पढ़ाते हैं इसलिए प्रजापिता ब्रह्माकुमार कुमारियां कहा जाता है। कितने ढेर बी.के. हैं। कहते हैं कि हमको डाडे से वर्सा मिलता है। बच्चे कहते हैं बाबा हमको नर्कवासी से स्वर्गवासी बनाते हैं। कहते हैं हे बच्चे – मामेकम् याद करो तो तुम्हारे सिर पर जो पापों का बोझा है वह भस्म हो जायेगा। फिर तुम सतोप्रधान बन जायेंगे। तुम सच्चा सोना, सच्चे जेवर थे। आत्मा और शरीर दोनों सतोप्रधान थे। आत्मा फिर सतो रजो तमो होती है तो शरीर भी ऐसा तमोगुणी मिलता है। बाप तुमको राय देते हैं कि बच्चे मुझे याद करो। मुझे बुलाते हो ना कि हे पतित-पावन आओ। भारत का प्राचीन राजयोग मशहूर है। वह अब तुमको सिखला रहा हूँ कि मेरे साथ योग रखो तो इससे तुम्हारी खाद जल जायेगी। जितना याद करेंगे उतनी खाद निकलती जायेगी। याद की ही मुख्य बात है। नॉलेज तो बाप ने दी है – सतयुग में यथा राजा रानी तथा प्रजा सब पवित्र थे, अभी सब पतित हैं। बाप कहते हैं कि इनके बहुत जन्मों के अन्त के जन्म में मैं प्रवेश करता हूँ। इसको कहा जाता है भाग्यशाली रथ। यह पढ़कर फिर पहले नम्बर में जाते हैं। नम्बरवार तो बनते हैं ना। मुख्य एक नाम होता है। बाप ने बच्चों को 84 जन्मों का राज़ अच्छी रीति समझाया है। तुम आदि सनातन देवी देवता धर्म के हो, न कि हिन्दू धर्म के। तुम कर्म श्रेष्ठ, धर्म श्रेष्ठ थे। फिर रावण के प्रवेश होने से धर्म-कर्म भ्रष्ट हो गये हो। अपने को देवी-देवता कहलाने में लज्जा आती है इसलिए हिन्दू नाम रख दिया है। वास्तव में आदि सनातन देवी-देवता धर्म के थे। तुमने 84 जन्म लिए हैं फिर पतित बन गये हो। 84 का चक्र भारतवासियों के लिए है। वापिस जाना तो सबको है। पहले तुम जायेंगे। जैसे बारात जाती है ना। शिवबाबा को साजन भी कहते हैं। तुम सजनियाँ इस समय छी-छी तमोप्रधान हो, उनको गुल-गुल बनाकर ले जायेंगे। आत्माओं को पावन बनाकर ले जायेंगे। इसको लिबरेटर, गाइड कहा गया है। बेहद का बाप ले जाता है। उनका नाम क्या है? शिवबाबा। नाम शरीर पर पड़ता है परन्तु परमात्मा का शिव ही नाम है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर का तो सूक्ष्म शरीर है। शिवबाबा का तो कोई शरीर है नहीं। उनको शिवबाबा ही कहते हैं। बच्चे कहते हैं, हे मात-पिता हम आपके बालक बने हैं। दूसरे तो पुकारते रहते हैं क्योंकि उन्हों को पता नहीं है। अगर सबको पता पड़ जाए तो मालूम नहीं क्या हो जाए। दैवी झाड़ का अभी सैपलिंग लगता है। हीरे से कौड़ी बनने में 84 जन्म लगते हैं। फिर नये सिरे से शुरू होगा। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होगी। बाप समझाते हैं कि तुमने पूरे 84 जन्म लिए हैं। 84 लाख तो हो न सके। यह बड़ी भूल है। 84 लाख जन्म समझने कारण कल्प की आयु लाखों वर्ष कह दी है। यह है बिल्कुल झूठ। भारत अब झूठखण्ड है, सचखण्ड में तुम सदा सुखी थे। इस समय तुम 21 जन्म का वर्सा लेते हो। सारा तुम्हारे पुरूषार्थ पर है। राजधानी में जो चाहो वह पद लो, इसमें जादू आदि की कोई बात नहीं है। हाँ मनुष्य से देवता जरूर बनते हैं। यह तो अच्छा जादू है ना। तुम सेकेण्ड में जान लेते हो कि हम बाबा के बच्चे बने हैं। कल्प-कल्प बाबा हमको स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। आधाकल्प भटकते आये हो, स्वर्गवासी तो कोई भी हुआ नहीं। बाप आकर तुम बच्चों को लायक बनाते हैं। बरोबर यहाँ महाभारत लड़ाई लगी थी और राजयोग सिखाया था। शिवबाबा कहते हैं कि मैं ही आकर तुमको सिखाता हूँ, न कि क्राइस्ट। अभी तुम्हारा बहुत जन्मों के अन्त का जन्म है, मूँझो नहीं। तुम भारतवासी हो। तुम्हारा धर्म बहुत सुख देने वाला है और धर्म वाले तो बैकुण्ठ में आ नहीं सकते। यह भी ड्रामा अनादि चलता रहता है। कब बना, यह कह नहीं सकते। इसकी नो एण्ड। वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी रिपीट होती है। यह है संगमयुग, छोटा युग। चोटी है ब्राह्मणों की। बाप तुम ब्राह्मणों को देवता बना रहे हैं। तो ब्रह्मा के बच्चे जरूर बनना पड़े। तुमको वर्सा मिलता है डाडे से। जब तक अपने को बी.के. नहीं समझें तब तक वर्सा कैसे मिले। फिर भी कोई कुछ न कुछ ज्ञान सुनते हैं तो साधारण प्रजा में आ जायेंगे। आना तो जरूर है। शिवबाबा ब्रह्मा द्वारा ब्राह्मण, देवता, क्षत्रिय धर्म की स्थापना करते हैं। सिवाए गीता के दूसरा कोई भी शास्त्र है नहीं। गीता है ही सर्वोत्तम दैवी धर्म का शास्त्र जिससे 3 धर्म स्थापन होते हैं। ब्राह्मण भी यहाँ बनना है। देवता भी यहाँ ही बनेंगे। अच्छा।

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) हर एक के निश्चित पार्ट को जान सदा निश्चिंत रहना है। बनी बनाई बन रही……ड्रामा पर अडोल रहना है।

2) इस छोटे से संगमयुग पर बाप से पूरा वर्सा लेना है। याद के बल से खाद निकाल स्वयं को कौड़ी से हीरे जैसा बनाना है। मीठे झाड के सैपलिंग में चलने के लिए लायक बनना है।

वरदान:- आश्चर्यजनक दृश्य देखते हुए पहाड़ को राई बनाने वाले साक्षीदृष्टा भव
सम्पन्न बनने में अनेक नये-नये वा आश्चर्यजनक दृश्य सामने आयेंगे, लेकिन वह दृश्य साक्षीदृष्टा बनावें, हिलायें नहीं। साक्षी दृष्टा के स्थिति की सीट पर बैठकर देखने वा निर्णय करने से बहुत मजा आता है। भय नहीं लगता। जैसेकि अनेक बार देखी हुई सीन फिर से देख रहे हैं। वह राजयुक्त, योगयुक्त बन वायुमण्डल को डबल लाइट बनायेंगे। उन्हें पहाड़ समान पेपर भी राई के समान अनुभव होगा।
स्लोगन:- परिस्थितियों में आकर्षित होने के बजाए उन्हें साक्षी होकर खेल के रूप में देखो।

TODAY MURLI 5 MARCH 2021 DAILY MURLI (English)

05/03/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, just as both Bap and Dada are egoless and soul conscious, so you must follow the Father in the same way and you will continue to make constant progress.
Question: In order to attain a high status, what must you be cautious about?
Answer: If you want to attain a high status, pay attention that you: 1. Do not cause sorrow for anyone even in your mind. 2. Never get angry in any situation. 3. After belonging to the Father, do not become an obstacle in the Father’s task and this sacrificial fire of Rudra. Some continue to say, “Baba, Baba,” but their behaviour is not royal and so they cannot claim a high status.

Om shanti. You children understand very well that you definitely have to claim your inheritance from the Father. How? By following shrimat. The Father has explained that there is only one scripture, the Gita, in which there are the elevated versions spoken by God. God is the Father of all. Elevated versions are spoken by God. God must definitely have come and made souls elevated. That is why He is praised. “Shrimad Bhagawad Gita” means the elevated versions spoken by God. God is definitely the Highest on High. From only that one scripture are elevated versions remembered. No other scripture has elevated versions spoken by God. Even the writer didn’t understand whose elevated versions they were. Why was that mistake made? The Father comes and explains all of that. As soon as the kingdom of Ravan began, they started to follow the dictates of Ravan. The first big mistake is made by those who follow the dictates of Ravan. They are slapped by Ravan. Just as it is said that Shankar inspires those people to make bombs, etc., in the same way, Ravan, the five vices, inspires human beings to become impure. This is why they call out: O Purifier, come! So the Purifier is only One. This proves that the one who makes everyone impure is different from the One who purifies you; the two cannot be the same. Only you understand these things, numberwise, according to the efforts you make. Don’t think that everyone has faith; it is numberwise. The more faith you have, the more your happiness increases. You have to follow the Father’s directions. We have to follow shrimat in order to receive the status of self-sovereignty. It doesn’t take long to change from ordinary humans into deities. You are making effort. You are following Mama and Baba. They are serving to make others similar to themselves. Therefore, you too can understand for yourselves what service you do compared to the service they do. Baba has explained that Shiv Baba and Brahma Dada are combined. Therefore, you have to understand that he is the closest of all. It is his (Brahma’s) perfect form that is seen in the subtle region. Therefore, he must definitely be ahead of everyone. However, just as the Father is egoless and soul conscious, so this Dada too is egoless. He says: Shiv Baba continues to explain to you. When the murli is being spoken, this Baba says: Understand that it is Shiv Baba who is speaking through this one. This Brahma must definitely be listening as well. If he didn’t listen to it or relate it, how could he claim a high status? However, he lets go of his own body consciousness and says: Understand that it is Shiv Baba who is saying everything. I am still making effort. Only Shiv Baba explains everything. This one has been through the stage of becoming impure. Mama was a kumari, and she therefore went ahead. You kumaris also have to follow Mama. The householders need to follow Baba. Each of you has to understand that you are impure and that you have to become pure. The main thing that the Father teaches you is the pilgrimage of remembrance. There mustn’t be any body consciousness in this. Achcha, if any of you are not able to give knowledge, then stay on the pilgrimage of remembrance. By staying on the pilgrimage of remembrance, you can give knowledge. However, if you forget to stay on the pilgrimage of remembrance, it doesn’t matter. Give knowledge and then engage yourself in the pilgrimage of remembrance, because that stage of going beyond sound is the stage of retirement. The main thing is to be soul conscious and to continue to remember the Father and the cycle. Don’t cause anyone sorrow. Simply continue to explain: Remember the Father; this is a pilgrimage. When someone dies, they say that he has gone to heaven. No one on the path of ignorance remembers heaven. To remember heaven means to be dead to everything here. No one remembers it just like that. You children now understand that you have to return home. The Father says: The more you remember Baba, the higher your mercury of happiness will rise. Also remember your inheritance. To the extent that you remember the Father, to that extent you will also remain cheerful. By not remembering the Father you become confused and continue to choke. You cannot stay in remembrance for that length of time. Baba has given you the example of a lover and beloved. Although he is doing his work and she is at the spinning wheel, her beloved comes and appears to her. The lover remembers the beloved. The beloved then remembers the lover. Here, you just have to remember the one Father. The Father doesn’t have to remember you. The Father is everyone’s Beloved. You children write: Baba, do You remember me? Oh! but how can the Beloved of everyone remember you lovers? That’s not possible. He is the Beloved. He cannot be a lover. You have to remember Him. Each of you has to become a lover of that one Beloved. If He were to become a lover, how many would He remember? That’s not possible. He says: I don’t have any burden of sin on Me that I would have to remember anyone. It is you who have a burden. If you don’t remember the Father, the burden of sin will not be removed. Why would I have to remember anyone? You souls have to remember Me. The more you souls stay in remembrance, the more pure and charitable you souls will become and the more your sins will continue to be cut away. The destination is very high. Effort is required to become soul conscious. You are receiving all of this knowledge. You become trikaldarshi, numberwise, according to the efforts you make. Let the whole cycle remain in your intellects. The Father explains: You are lighthouses, are you not? You are those who show everyone the path to the land of peace and the land of happiness. You listen to all of these new things. You know that you souls truly are residents of the land of peace. You come here to play your parts. We are actors. Continue to keep these thoughts in your intellects and you will become intoxicated. The Father has explained what your parts are from the beginning through the middle to the end. You now definitely have to go into your karmateet stage and then go to the golden age. While maintaining this concern, benefit yourselves! Don’t just become pundits. If you continue to teach others, but you don’t stay in that stage yourselves, it won’t make any impact. Each of you also has to make your own effort. The Father also tells you how he makes effort to stay in remembrance. Sometimes, storms of Maya come in such a way that they break the yoga of the intellect. Many children send their charts. Baba is amazed at how they go ahead of me. Perhaps they feel that force and they therefore start to write their charts. However, if they were to run in the race that quickly, they would claim number one, but no; that is just to the extent of writing their charts. They don’t write about how many they have made similar to themselves. Others too don’t write to Baba and say: Baba, this one showed me the path. Baba doesn’t receive such news. So, what would Baba understand? Nothing will happen by just sending in your chart. You also have to make others similar to yourselves. You have to become both rup and basant. Otherwise, you are not equal to the Father. You have to become an accurate rup and basant. It is this that requires effort. Body consciousness kills you. Ravan has made you body conscious. You are now becoming soul conscious. Then, after half the cycle, Maya, Ravan, makes you body conscious. Those who are soul conscious become very sweet. No one has yet become complete. This is why Baba always says: Don’t hurt anyone’s heart. Don’t cause sorrow. Give everyone the Father’s introduction. There has to be great royalty in your way of speaking and interacting. Let only jewels constantly emerge from the lips of God’s children. You give human beings the donation of life. Show them the path and tell them: You are God’s children, are you not? You have to receive the kingdom of heaven from Him. So, why do you not have that at this time? Just remember: You truly did receive your inheritance from the Father, did you not? You people of Bharat were deities; you took 84 births. Understand that you belonged to the clan of Lakshmi and Narayan. Why do you consider yourselves to be anything less? Baba understands that those who say that not everyone can become that don’t belong to this clan – that they have now started to fluctuate. You have taken 84 births. The Father enabled you to accumulate a reward for 21 births. You began to use it up and depleted it. You have been covered with rust and have now become tamopradhan and worth shells. Only Bharat was 100% solvent. From where did they receive their inheritance? Only the actors can tell you this. Human beings are actors. They should understand where Lakshmi and Narayan received their kingdom from. These are such good points! Surely, they must have received their fortune of the kingdom in their previous birth. Only the Father is the Purifier. He says: I tell you the philosophy of action, neutral action and sinful action. In the kingdom of Ravan, the actions of human beings are sinful. Your actions there are neutral. That is the divine world. I am the Creator, and so I definitely have to come at the confluence age. This is Ravan’s kingdom. That is God’s kingdom. God is now carrying out the establishment of that. All of you are the children of God. You are receiving your inheritance. The people of Bharat were solvent and have now become insolvent. This drama is predestined; there can be no difference in it. Everyone belongs to their own part of the tree. This is a variety tree. Those who belong to the deity religion will go into the deity religion again. Christianare happy in their own religion; they have even attracted others into their religion. Because the people of Bharat have forgotten their own religion, they consider other religions to be better. So many people go abroad for employment because they can earn a good income there. The drama is created very wonderfully. A very good intellect is needed to understand it. By churning the ocean of knowledge you can understand everything. This drama is eternally predestined. You children have to make others constantly happy, the same as you. It is your business to purify the impure. As is the Father’s task, so is yours. Let your faces remain as constantly cheerful as those of the deities. You know that you are becoming the masters of the world. Therefore, you are lovely children. You have to be very cautious about anger. The Father has come to give you children your inheritance of happiness. Show everyone the path to heaven. The Father is the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness. You also have to become bestowers of happiness. Don’t cause anyone sorrow. If you cause anyone sorrow, your punishment increases one hundredfold. No one can be saved from punishment. There will be a special tribunal for the children. The Father says: If you cause obstacles, there has to be a lot of punishment. Every cycle, you will have a vision of what so-and-so is to become. In the early days, they were shown these things, but Baba forbade them to tell others. At the end, everyone will know accurately. As you make further progress, there will be visions with great force. There will continue to be expansion. The queue will stretch down to Abu. No one will be able to meet Baba. They will say: O God, Your divine activities…. This too is remembered. Scholars and pundits will also come at the end; their thrones will shake. You children will be in a lot of happiness. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love and remembrance from the Mother, the Father, BapDada. Only once do you receive such love and remembrance. The more you stay in remembrance, the more love you receive, the more your sins are absolved and the more you are able to imbibe. Let he mercury of happiness of you children should remain high. Show the path to anyone who comes. The unlimited inheritance has to be received from the unlimited Father. Is this a small matter? Such effort has to be made. Achcha. To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from spiritual BapDada to the spiritual children. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become very royal in your way of speaking and interacting. Only let jewels constantly emerge from your lips. Serve to make others similar to yourself. Don’t hurt anyone’s heart.
  2. Be very cautious about anger. Let your face always be as constantly cheerful as those of the deities. Make yourself into a deity with the powers of knowledge and yoga.
Blessing: May you be one with a pure intellect (sadbuddhivan) and remain constantly beyond any type of repentance and thereby experience the stage of an embodiment of attainment.
The children who hand over the boat of their lives to the Father, and finish any consciousness of “I”, and do not mix the dictates of their minds with shrimat remain constantly beyond any type of repentance, and they experience the stage of an embodiment of attainment. Such children are said to be those with pure intellects. Children with such pure intellects consider storms (toofan) to be a gift (tohfa) and any conflict of their nature or sanskars to be a means of moving forward. They make the Father their constant Companion, watch every part as detached observers and constantly move along while happy and cheerful.
Slogan: Waves of sorrow cannot come to the children who give happiness as children of the Father who is the Bestower of Happiness.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 5 MARCH 2021 : AAJ KI MURLI

05-03-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे बच्चे – जैसे बाप-दादा दोनों निरहंकारी हैं, देही-अभिमानी हैं, ऐसे फॉलो फादर करो, तो सदा उन्नति होती रहेगी”
प्रश्नः- ऊंच पद की प्राप्ति के लिए कौन सी खबरदारी रखना जरूरी है?
उत्तर:- ऊंच पद पाना है तो खबरदारी रखो कि मन्सा से भी किसी को मेरे द्वारा दु:ख न हो, 2- किसी भी परिस्थिति में क्रोध न आये, 3- बाप का बनकर बाप के कार्य में, इस रूद्र यज्ञ में विघ्न रूप न बनें। अगर कोई मुख से बाबा-बाबा कहे और चलन रॉयल न हो तो ऊंच पद नहीं मिल सकता।

ओम् शान्ति। बच्चे अच्छी तरह से जानते हैं कि बाप से वर्सा पाना है जरूर। कैसे? श्रीमत पर। बाप ने समझाया है एक ही गीता शास्त्र है जिसमें श्रीमत भगवानुवाच है। भगवान तो सबका बाप है। श्रीमत भगवानुवाच। तो जरूर भगवान ने आकर श्रेष्ठ बनाया होगा, तब तो उसकी महिमा है। श्रीमत भगवत गीता अर्थात् श्रीमत भगवानुवाच। भगवान तो जरूर ऊंच ते ऊंच ठहरा। श्रीमत भी उस ही एक शास्त्र में गाई हुई है और कोई शास्त्र में श्रीमत भगवानुवाच नहीं है। श्रीमत किसकी होनी चाहिए, वह लिखने वाले भी समझ न सकें। उसमें भूल क्यों हुई है? वह भी बाप आकर समझाते हैं। रावण राज्य शुरू होने से ही रावण मत पर चल पड़ते हैं। पहले कड़े ते कड़ी भूल इन रावण मत वालों ने की है। रावण की चमाट लगती है। जैसे कहा जाता है शंकर प्रेरक है, बॉम्बस आदि बनवाये हैं। वैसे 5 विकारों रूपी रावण प्रेरक है मनुष्य को पतित बनाने का, तब तो पुकारते हैं पतित-पावन आओ। तो पतित-पावन एक ही ठहरा ना। इससे सिद्ध है कि पतित बनाने वाला और है, पावन बनाने वाला और है। दोनों एक हो नहीं सकते। यह बातें तुम ही समझते हो – नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। ऐसे मत समझना कि सभी को निश्चय है। नम्बरवार हैं। जितना निश्चय है उतनी खुशी बढ़ती है। बाप की मत पर चलना होता है। श्रीमत पर हमको यह स्वराज्य पद पाना है। मनुष्य से देवता बनने में देरी नहीं लगती है। तुम पुरूषार्थ करते हो। मम्मा बाबा को फॉलो करते हो। जैसे वह आप समान बनाने की सर्विस कर रहे हैं, तुम भी समझते हो हम क्या सर्विस कर रहे हैं और मम्मा बाबा क्या सर्विस कर रहे हैं। बाबा ने समझाया था कि शिवबाबा और ब्रह्मा दादा दोनों इकट्ठे हैं। तो समझना चाहिए कि सबसे नजदीक हैं। इनका ही सम्पूर्ण रूप सूक्ष्मवतन में देखते हैं तो जरूर यह तीखा होगा। परन्तु जैसे बाप निरहंकारी है, देही-अभिमानी है वैसे यह दादा भी निरहंकारी है। कहते हैं कि शिवबाबा ही समझाते रहते हैं। जब मुरली चलती है तो बाबा खुद कहते हैं कि समझो कि शिवबाबा इन द्वारा सुना रहे हैं। यह ब्रह्मा भी जरूर सुनता होगा। यह न सुने और न सुनाये तो ऊंच पद कैसे पाये। परन्तु अपना देह-अभिमान छोड़ कहते हैं कि ऐसे समझो कि शिवबाबा ही सुनाते हैं। हम पुरूषार्थ करते रहते हैं। शिवबाबा ही समझाते हैं। इसने तो पतित-पना पास किया हुआ है। मम्मा तो कुमारी थी। तो मम्मा ऊंच चली गई। तुम भी कुमारियाँ मम्मा को फॉलो करो। गृहस्थियों को बाबा को फॉलो करना चाहिए। हर एक को समझना है कि मैं पतित हूँ, मुझे पावन बनना है। मुख्य बात बाप ने याद के यात्रा की सिखलाई है। इसमें देह-अभिमान नहीं रहना चाहिए। अच्छा कोई मुरली नहीं सुना सकते तो याद की यात्रा पर रहो। यात्रा पर रहते मुरली चला सकते हैं। परन्तु यात्रा भूल जाते हैं तो भी हर्जा नहीं। मुरली चलाकर फिर यात्रा पर लग जाओ क्योंकि वह वाणी से परे वानप्रस्थ अवस्था है। मूल बात है देही-अभिमानी हो बाप को याद करते रहें और चक्र को याद करते रहें। किसी को दु:ख न दें। यही समझाते रहें बाप को याद करो। यह है यात्रा। मनुष्य जब मरते हैं तो कहते हैं – स्वर्ग पधारा। अज्ञान काल में कोई स्वर्ग को याद नहीं करते हैं। स्वर्ग को याद करना माना यहाँ से मरना। ऐसे तो कोई याद नहीं करते। अभी तुम बच्चे जानते हो हमको वापिस जाना है। बाप कहते हैं – जितना तुम याद करेंगे उतना खुशी का पारा चढ़ेगा, वर्सा याद रहेगा। जितना बाप को याद करेंगे उतना हर्षित भी रहेंगे। बाप को याद न करने से मूँझते हैं। घुटका खाते रहते हैं। तुम इतना समय याद कर नहीं सकते। बाबा ने आशिक माशूक का मिसाल बताया है। वह भल धंधा करते हैं और वह भल चर्खा चलाती रहती तो भी उसके सामने माशूक आकर खड़ा हो जाता। आशिक माशूक को याद करते, माशूक फिर आशिक को याद करते। यहाँ तो सिर्फ तुमको एक बाप को याद करना है। बाप को तो तुमको याद नहीं करना है। बाप सबका माशूक है। तुम बच्चे लिखते हो कि बाबा आप हमको याद करते हो? अरे जो सबका माशूक है वह फिर तुम आशिकों को याद कैसे कर सकेंगे? हो नहीं सकता। वह है ही माशूक। आशिक बन नही सकता। तुमको ही याद करना है। तुम हर एक को आशिक बनना है, उस एक माशूक का। अगर वह आशिक बने तो कितने को याद करे। यह तो हो नहीं सकता। कहता है कि मेरे ऊपर पापों का बोझ थोड़ेही है जो किसको याद करूं। तुम्हारे ऊपर बोझा है। बाप को याद नहीं करेंगे तो पापों का बोझा नहीं उतरेगा। बाकी मुझे क्यों किसको याद करना पड़े। याद करना है तुम आत्माओं को। जितना याद करेंगे उतना पुण्य आत्मा बनेंगे, पाप कटते जायेंगे। बड़ी मंजिल है। देही-अभिमानी बनने में ही मेहनत है। यह नॉलेज सारी तुमको मिल रही है। तुम त्रिकालदर्शी बने हो, नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार। सारा चक्र तुम्हारी बुद्धि में रहना चाहिए। बाप समझाते हैं तुम लाईट हाउस हो ना। हर एक को रास्ता बताने वाले हो, शान्तिधाम और सुखधाम का। यह सब नई बातें तुम सुनते हो। जानते हो कि बरोबर हम आत्मायें शान्तिधाम के रहवासी हैं। यहाँ पार्ट बजाने आते हैं। हम एक्टर हैं। यही चिंतन बुद्धि में चलता रहे तो मस्ती चढ़ जाये। बाप ने समझाया है आदि से लेकर अन्त तक तुम्हारा पार्ट है। अभी कर्मातीत अवस्था में जरूर जाना है फिर गोल्डन एज़ में आना है। इस धुन में रहते अपना कल्याण करना है। सिर्फ पण्डित नहीं बनना है। दूसरे को सिखाते रहेंगे, खुद उस अवस्था में नहीं रहेंगे तो असर पड़ेगा नहीं। अपना भी पुरूषार्थ करना है। बाप भी बताते हैं कि हम भी याद करने की कोशिश करता हूँ। कभी माया का तूफान ऐसा आता है जो बुद्धि का योग तोड़ देते हैं। बहुत बच्चे चार्ट भेज देते हैं। वन्डर खाता हूँ कि यह तो हमसे भी तीखे जाते हैं। शायद वेग आता है तो चार्ट लिखने में लग जाते हैं परन्तु ऐसी अगर तीखी दौड़ी पहनें तो नम्बरवन में चले जायें। परन्तु नहीं वह सिर्फ चार्ट लिखने तक है। ऐसे नहीं लिखते कि बाबा इतनों को आप समान बनाया। और वह भी लिखे बाबा हमको इसने यह रास्ता बताया है। ऐसा समाचार नहीं आता है। तो बाबा क्या समझेंगे? सिर्फ चार्ट भेजने से काम नहीं चलता। आप समान भी बनाना है। रूप और बसन्त दोनों बनना है। नहीं तो बाप समान नहीं ठहरे। रूप भी बसन्त भी एक्यूरेट बनना है, इसमें ही मेहनत है। देह-अभिमान मार डालता है। रावण ने देह-अभिमानी बनाया है। अभी तुम देही-अभिमानी बनते हो। फिर आधाकल्प के बाद माया रावण देह-अभिमानी बनाती है। देही-अभिमानी तो बहुत मीठा बन जाते हैं। सम्पूर्ण तो अभी कोई भी बना नहीं है इसलिए बाबा हमेशा कहते हैं कि किसी के भी दिल को रंज नहीं करना है, दु:ख नहीं देना है। सबको बाप का परिचय दो। बोलने करने की भी बड़ी रॉयल्टी चाहिए। ईश्वरीय सन्तान के मुख से सदैव रत्न निकलने चाहिए। तुम मनुष्यों को जीयदान देते हो। रास्ता बताना है और समझाना है। तुम परमात्मा के बच्चे हो ना। उनसे तुमको स्वर्ग की राजाई मिलनी चाहिए। फिर अब वह क्यों नहीं है। याद करो बरोबर बाप से वर्सा मिला था ना। तुम भारतवासी देवी देवतायें थे, तुमने ही 84 जन्म लिए। तुम समझो कि हम ही लक्ष्मी नारायण के कुल के थे। अपने को कम क्यों समझते हो। अगर कहते कि बाबा सब थोड़ेही बनेंगे। तो बाबा समझ जाता कि यह इस कुल का नहीं। अभी से ही थिरकने लग पड़ा है। तुमने 84 जन्म लिए हैं। बाप ने 21 जन्मों की प्रालब्ध जमा कराई वह खाया फिर ना (समाप्त) होना शुरू हो गई। कट चढ़ते-चढ़ते तमोप्रधान कौड़ी मिसल बन पड़े हो। भारत ही 100 प्रतिशत सॉलवेन्ट था। इन्हों को यह वर्सा कहाँ से मिला? एक्टर्स ही बता सकेंगे ना। मनुष्य ही एक्टर हैं। उनको यह पता होना चाहिए कि इन लक्ष्मी-नारायण को बादशाही मिली कहाँ से? कितनी अच्छी-अच्छी प्वाईट्स हैं। जरूर आगे जन्म में ही यह राज्य भाग्य पाया होगा।

बाप ही पतित-पावन है। बाप कहते हैं कि मैं तुमको कर्म, अकर्म और विकर्म की गति समझाता हूँ। रावण राज्य में मनुष्य के कर्म विकर्म हो जाते हैं। वहाँ तुम्हारे कर्म अकर्म होते हैं। वह है दैवी सृष्टि। मैं रचता हूँ तो जरूर मुझे संगम पर आना पड़े। यह है रावण राज्य। वह है ईश्वरीय राज्य। ईश्वर अब स्थापना करा रहे हैं। तुम सब ईश्वर के बच्चे हो, तुमको वर्सा मिल रहा है। भारतवासी ही सॉलवेन्ट थे, अब इनसॉलवेन्ट बन गये हैं। यह बना बनाया ड्रामा है, इसमें फ़र्क नहीं हो सकता। सबका झाड़ अपना-अपना है। वैराइटी झाड़ है ना। देवता धर्म वाले ही फिर देवता धर्म में आयेंगे। क्रिश्चियन धर्म वाले अपने धर्म में खुश हैं औरों को भी अपने धर्म में खींच लिया है। भारतवासी अपने धर्म को भूलने के कारण वह धर्म अच्छा समझ चले जाते हैं। विलायत में नौकरी के लिए कितने जाते हैं क्योंकि वहाँ कमाई बहुत है। ड्रामा बड़ा वण्डरफुल बना हुआ है। इसको समझने की अच्छी बुद्धि चाहिए। विचार सागर मंथन करने से सब कुछ समझ में आ जाता है। यह बना बनाया अनादि ड्रामा है। तो तुम बच्चों को आपसमान सदा सुखी बनाना है। यह तुम्हारा धन्धा है पतितों से पावन बनाना। जैसे बाप का धंधा वैसे तुम्हारा। तुम्हारा मुखड़ा सदैव देवताओं जैसा हर्षित होना चाहिए खुशी में। तुम जानते हो हम विश्व के मालिक बनते हैं। तुम हो लवली चिल्ड्रेन। क्रोध पर बड़ी खबरदारी रखनी है। बाप आये हैं बच्चों को सुख का वर्सा देने। स्वर्ग का रास्ता सबको बताना है। बाप सुख कर्ता, दु:ख हर्ता है। तो तुमको भी सुख कर्ता बनना है। किसको दु:ख नहीं देना है। दु:ख देंगे तो तुम्हारी सज़ा 100 गुणा बढ़ जायेगी। कोई भी सजा से बच नहीं सकता। बच्चों के लिए तो खास ट्रिब्युनल बैठती है। बाप कहते कि तुम विघ्न डालेंगे तो बहुत सजा खायेंगे। कल्प-कल्पान्तर तुम साक्षात्कार करेंगे कि फलाने यह बनेंगे। आगे जब देखते थे तो बाबा मना करते थे कि न सुनाओ। अन्त में तो एक्यूरेट मालूम पड़ता जायेगा। आगे चलकर जोर से साक्षात्कार होंगे। वृद्धि तो होती जायेगी। आबू तक क्यू लग जायेगी। बाबा से कोई भी मिल नहीं सकेंगे। कहेंगे अहो प्रभू तेरी लीला। यह भी गाया हुआ तो है ना। विद्वान, पण्डित आदि भी पीछे आयेंगे। उन्हों के सिंहासन भी हिलेंगे। तुम बच्चे तो बहुत खुशी में रहेंगे। अच्छा !

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार। ऐसी यादप्यार एक ही बार मिलती है। जितना तुम याद करते हो उतना तुम प्यार पाते हो। विकर्म विनाश होते हैं और धारणा भी होती है। बच्चों को खुशी का पारा चढ़ा रहना चाहिए। जो भी आये उनको रास्ता बतायें। बेहद का वर्सा बेहद के बाप से पाना है। कम बात है क्या? ऐसा पुरूषार्थ करना चाहिए। अच्छा !

मीठे-मीठे सिकीलधे रूहानी बच्चों प्रति रूहानी बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बोलने चलने में बहुत रॉयल बनना है। मुख से सदैव रत्न निकालने हैं। आप समान बनाने की सेवा करनी है। किसी की दिल को रंज नहीं करना है।

2) क्रोध पर बड़ी खबरदारी रखनी है। मुखड़ा सदैव देवताओं जैसा हर्षित रखना है। स्वयं को ज्ञान योगबल से देवता बनाना है।

वरदान:- सदा पश्चाताप से परे, प्राप्ति स्वरूप स्थिति का अनुभव करने वाले सद्-बुद्धिवान भव
जो बच्चे बाप को अपने जीवन की नैया देकर मैं पन को मिटा देते हैं। श्रीमत में मनमत मिक्स नहीं करते वह सदा पश्चाताप से परे प्राप्ति स्वरूप स्थिति का अनुभव करते हैं। उन्हें ही सद्-बुद्धिवान कहा जाता है। ऐसे सद्-बुद्धि वाले तूफानों को तोफा समझ, स्वभाव-संस्कार की टक्कर को आगे बढ़ने का आधार समझ, सदा बाप को साथी बनाते हुए, साक्षी हो हर पार्ट देखते सदा हर्षित होकर चलते हैं।
स्लोगन:- जो सुखदाता बाप के सुखदाई बच्चे हैं उनके पास दु:ख की लहर आ नहीं सकती।

TODAY MURLI 4 MARCH 2021 DAILY MURLI (English)

04/03/21
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweetest, serviceable children, don’t perform such actions that they would cause obstacles in service.
Question: At the confluence age, you children have to become completely accurate. Which children can become accurate?
Answer: 1. The children who remain constantly honest with the true Father can become accurate. It should not be that you are one thing internally and something else externally. 2. Those who don’t involve themselves in anything other than Shiv Baba. 3. Those who follow shrimat at every step and don’t make any mistakes can become accurate.
Song: Don’t forget the days of your childhood!

Om shanti. You sweetest, spiritual children heard a few words of the song. You have the faith that the unlimited Father is now giving you your inheritance of unlimited happiness. You have come and become the children of such a Father and so you have to follow the Father’s shrimat. What would happen otherwise? One moment, you are laughing and you say that you will become emperors and empresses but, if you let go of His hand, you then become ordinary subjects. You will definitely go to heaven. It isn’t that everyone goes to heaven; only those who are to go to the golden and silver ages will go. The golden and silver ages together are called heaven. However, those who go into the new world at the beginning experience a lot of happiness, whereas those who are to go later will not take any knowledge. Those who take knowledge will go to the golden and silver ages. Everyone else will go in the kingdom of Ravan; they experience a little happiness. In the golden and silver ages, there is a lot of happiness. This is why you should make effort to claim your inheritance of unlimited happiness from the Father. Write about this very good news. Write on the cards you print: This is the good news from the highest-on-high unlimited Father. You show in the exhibitions how the new world is being established. Write this very clearly in large letters: The unlimited Father, the Ocean of Knowledge, the Purifier, the Bestower of Salvation, the God of the Gita, Shiva, is once again changing the iron-aged, completely vicious, corrupt, impure world into the golden-aged, completely viceless, pure and elevated world through the Brahma Kumars and Kumaris. Come and hear and understand this good news. You have also said to the Government: Come and understand how we are once again establishing the elevated, golden-aged deity kingdom of 100% purity, peace and happiness and how this vicious world is going to be destroyed. Write it clearly in this way. Write on the cards in such a way that people can understand it very clearly. Come and understand how the Prajapita Brahma Kumars and Kumaris are making Bharat so elevated and pure, according to the drama plan, exactly as they did in the previous cycle, by following the directions of the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva, through easy Raja Yoga and the power of purity with their bodies, minds and wealth. Print this clearly on the cards so that anyone can understand that you BKs are establishing the kingdom of Rama by following the directions of Shiv Baba. This was Gandhiji’s desire. Print this full invitation in the newspapers too. Definitely explain that the Prajapita Brahma Kumars and Kumaris are doing this with their own bodies, minds and money so that people never think that you are begging for alms or donationsetc. Everyone in the world outside moves along on the basis of the donations they are given. Here, you say that we BKs are doing everything with our own bodies, minds and money. We receive our own kingdom and so we would pay our expenses. Those who make effort receive the inheritance for 21 births. It is the residents of the land of Bharat who become elevated and doublecrowned. Lakshmi and Narayan are doublecrowned. At present, there is no crown. This has to be explained very clearly. The Father says: Write like this so that the poor people can understand what the BKs are doing. When influential people speak about it, the poor will also be heard. Otherwise, no one listens to the poor. The wealthy are very quickly heard. You prove to them that you are especially making Bharat into heaven and that everyone else will be sent to the land of peace. Explain in this way: Bharat was heaven like that 5000 years ago. It is now the iron age, whereas that was the golden age. Tell us: How many people are there in the golden age? It is now the end of the iron age. This is the same great Mahabharat War. At no other time does such a war take place. The third world war happened at the end. They keep on trying. They keep making atomic bombs. They don’t listen to anyone. They say to their opponents: If you dispose of all the bombs you have already made in the sea, we will not make any more bombs. How can it be that you keep bombs and we don’t make them? However, you children understand that this is the way destiny is created. No matter how many directions you give them, they will not understand. If destruction did not take place, how would you rule the kingdom? You children have faith. Those with doubtful intellects leave Baba and become traitors. After belonging to the Father, do not become a traitor.You have to remember Shiv Baba; there is no benefit in anything else. Be honest with the true Father. If, you are one thing internally and you are something else externally, your status will become degraded. You will cause yourself a loss. You will not be able to attain a high status cycle after cycle. That is why you have to be very accurate at this time. Don’t be careless. Follow shrimat as much as you can. Constant remembrance will be possible at the end. No one, apart from the Father, should be remembered. It is remembered that if someone remembers a woman at the end…. You would remember someone for whom you have attachment. The more progress you make, the closer you come, the more visions you will continue to receive. Baba will show each of you the type of actions you performed. In the early days, too, you had visions. Those who experienced punishment cried a lot. In order to demonstrate to you, those souls’ sins were cut one hundred-fold. That is why you mustn’t perform such actions that they would create obstacles to Baba’s service. At the end, you will have visions of everything and how you created many obstacles to Baba’s service in such a way that they caused a great loss. That is the devilish community. Those who create obstacles experience a lot of punishment. Shiv Baba’s court is very big. Dharamraj, His right hand, is also here. Other punishment is limited. Here, there is a loss incurred for 21 births and the status is destroyed. The Father continues to explain everything so that none of you can say that you weren’t aware of something. Therefore, Baba continues to caution you about everything. He sees how many have run away from every centre. They become vicious and cause trouble. One has to study properly at school. What status would you claim otherwise? There is a lot of difference in status. Just as in this land of sorrow, one person is a president, one is a wealthy person and another is poor, so, in the golden age too, status will be numberwise. Royal, wise children will try to claim their full inheritance from the Father. There is boxing with Maya. Maya is very powerful and there continues to be victory and defeat. So many come and then leave and become traitors. While moving along, they fail. Many ask how this is possible. They have never heard that it is possible to remain pure while living at home and with your family. Oh! But, the versions of God say: Lust is the greatest enemy! This is also sung in the Gita. You know that in the golden age, there are those with divine virtues, whereas in the iron age there are those with devilish traits. Those with devilish traits praise those with divine virtues. There is so much difference! You now understand what you were and what you are becoming. You have to imbibe all the virtues here. Even your food and drink etc. has to be completely pure. Just see what they offer to deities! Just go to the Shrinath Temple and see how they prepare such rich food with so much cleanliness. There are Vaishnavs there, but look what they offer at the Jagadnath Temple! Rice. There, they have very dirty idols of the path of sin. When it was their kingdom, there were 36 varieties of food. They prepare a lot of food at the Shrinath Temple. Puri (Jagadnath) is different from Shrinath. At the temple in Puri they have dirty idols of people in deity costumes. Therefore, the bhog offered there is of rice with no clarified butter in it. This shows the difference between what Bharat was and what it has become. Look at its condition now! There isn’t even enough grain! There is the difference of day and night between their plan and Shiv Baba’s plan. All of their plans will turn to dust. There will be natural calamities; there won’t be any grain etc. In some places they have too much rain, whereas in other places there is no rain at all. This causes so much damage. At this time even the elements are tamopradhan and so there is rainfall at odd times. Even the storms are tamopradhan; the heat of the sun will also be so hot, don’t even ask. These natural calamities are fixed in the drama. Their intellects have no love at the time of destruction. Your intellects are loving to the Father. On the path of ignorance, parents love their worthy children. This is why Baba says: Love and remembrances, numberwise, according to the effort you make! The more service you do…. You do have to do service. Service has to be done of Bharat in particular and the world in general. Bharat has to be made into heaven. Everyone else has to be sent back to the land of peace. Bharat receives the inheritance of heaven and all the rest receive the inheritance of liberation. Everyone will go back. After the cries of distress, there will be cries of victory. There will be so much distress everywhere. This is a play about bloodshed without cause. There will also be natural calamities. Everyone has to die. The Father explains to the children: Make full effort. Remain constantly obedient and faithful to the Father! You have to become serviceable. Visions will continue to be granted of those who did such service in the previous cycle. You will continue to see everything as detached observers. You have become spinners of the discus of self-realisation. The discus of self-realisation should constantly be spinning in your intellects. We have taken 84 births in this way. We are now to return home. There should be remembrance of the Father and the home. The golden age should also be remembered. Just use your intellects to think about all of this throughout the whole day. We are now to become great princes of the world. We will become Shri Lakshmi or Shri Narayan. There should be this intoxication. Baba has this intoxication. Baba looks at this picture (of Lakshmi and Narayan) every day. Internally, he has this intoxication: Tomorrow I will go and become Shri Krishna. Then, after marriage, he will become Shri Narayan. The same applies to you. You will also become that, will you not? This is Raja Yoga; it is not yoga for becoming subjects (praja yoga). You souls are receiving your fortune of the kingdom once again. You children lost your kingdom. You are now reclaiming your kingdom once again. Baba has had these pictures etc. made so that you children can experience happiness when you look at them. We are attaining our fortune of the kingdom of heaven for 21 births. It is so easy! Shiv Baba teaches us Raja Yoga through this Prajapita Brahma. We will then go and become that. As soon as you see the picture, the mercury of happiness rises. By staying in remembrance of the Father, we will become the princes of the world. There should be so much happiness. I am studying and you are also studying. After this study, we will go and become that. Everything depends on how much you study: the more you study, the more income you will earn. Baba has told you that some surgeons are so clever that they can earn hundreds of thousands of rupees on one case. It is the same with barristers: some earn a lot, whereas others wear a torn coat. It is the same here. This is why Baba repeatedly says: Children, don’t be careless about anything. Constantly follow shrimat! You are made elevated by doubly elevated Shiv Baba. You children have received the inheritance from the Father many times and then lost it many times. You receive the inheritance for 21 births which lasts for half the cycle. You receive happiness for half the cycle, 2500 years. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Remain honest inside and out. Never become careless about how you study. Never have a doubtful intellect and stop studying. Don’t become an obstacle in service.
  2. Tell everyone the good news that we are serving Bharat to make it elevated and double-crowned by following shrimat and helping with our own bodies, minds and money for 21 births with the power of purity.
Blessing: May you stop your thoughts in a second and make your foundation strong and therebypass with honours.
paper comes to make you mature and to make your foundation strong, so do not be afraid of it. If there is some external upheaval, practiseputting a stop to your thoughts in a second. No matter how much expansion there is, merge it in a second. No matter whether there is hunger or thirst, heat or cold, let your sanskars not emerge; use the power to pack up to stop them. This practice over a long time will make you pass with honours.
Slogan: To give people the experience of happiness and comfort with your vibrations of happiness and peace is real service.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 4 MARCH 2021 : AAJ KI MURLI

04-03-2021
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन
“मीठे-मीठे सर्विसएबुल बच्चे – ऐसा कोई भी काम नहीं करना जिससे सर्विस में कोई भी विघ्न पड़े”
प्रश्नः- संगमयुग पर तुम बच्चों को बिल्कुल एक्यूरेट बनना है, एक्यूरेट कौन बन सकते हैं?
उत्तर:- जो सच्चे बाप के साथ सदा सच्चे रहते हैं, अन्दर एक, बाहर दूसरा – ऐसा न हो। 2- जो शिवबाबा के सिवाए और बातों में नहीं जाते हैं। 3- हर कदम श्रीमत पर चलते हैं, कोई भी ग़फलत नहीं करते, वही एक्यूरेट बनते हैं।
गीत:- बचपन के दिन भुला न देना……

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों ने गीत के दो अक्षर सुने यह तो निश्चय करते हो – बेहद का बाप अभी बेहद सुख का वर्सा दे रहे हैं। ऐसे बाप के हम आकर बच्चे बने हैं तो बाप की श्रीमत पर भी चलना है। नहीं तो क्या होगा! अभी-अभी हंसते हो, कहते हो हम महाराजा महारानी बनेंगे और अगर हाथ छोड़ दिया तो फिर जाकर साधारण प्रजा बनेंगे। स्वर्ग में तो जरूर आयेंगे। ऐसे भी नहीं सब स्वर्ग में आने वाले हैं। जो सतयुग त्रेता में आने वाले होंगे, वही आयेंगे। सतयुग और त्रेता दोनों को मिलाकर स्वर्ग कहा जाता है। फिर भी जो पहले-पहले नई दुनिया में आते हैं वह अच्छा सुख पाते हैं बाकी जो बाद में आने वाले हैं वह कोई आकर ज्ञान नहीं लेंगे। ज्ञान लेने वाले सतयुग त्रेता में आयेंगे। बाकी आते ही हैं रावण राज्य में। वह थोड़ा सा सुख पा सकेंगे। सतयुग त्रेता में तो बहुत सुख है ना इसलिए पुरूषार्थ करके बाप से बेहद सुख का वर्सा पाना चाहिए और यह महान खुशखबरी लिखो – कार्डस जो छपवाते हैं उसमें भी यह लिखना चाहिए – ऊंच ते ऊंच बेहद के बाप की खुशखबरी। प्रदर्शनी में तुम दिखाते हो नई दुनिया कैसे स्थापन होती है। तो यह क्लीयर और बड़े अक्षरों में लिखना चाहिए। बेहद का बाप ज्ञान का सागर, पतित-पावन, सद्गति दाता गीता का भगवान शिव कैसे ब्रह्माकुमार कुमारियों द्वारा फिर से कलियुगी सम्पूर्ण विकारी, भ्रष्टाचारी पतित दुनिया को सतयुगी सम्पूर्ण निर्विकारी पावन श्रेष्ठाचारी दुनिया बना रहे हैं। वह खुशखबरी आकर सुनो अथवा समझो। गवर्नमेन्ट से भी तुम्हारी यह प्रतिज्ञा है कि हम भारत में फिर से सतयुगी श्रेष्ठाचारी 100 प्रतिशत पवित्रता सुख-शान्ति का दैवी स्वराज्य कैसे स्थापन कर रहे हैं और इस विकारी दुनिया का विनाश कैसे होगा सो आकर समझो। ऐसा क्लीयर लिखना चाहिए। कार्ड में ऐसे लिखो जो मनुष्य अच्छी रीति समझ सकें। यह प्रजापिता ब्रह्माकुमार कुमारियाँ कल्प पहले मिसल ड्रामा प्लैन अनुसार परमपिता परमात्मा शिव की श्रीमत पर सहज राजयोग और पवित्रता के बल से, अपने तन-मन-धन से भारत को ऐसा श्रेष्ठाचारी पावन कैसे बना रहे हैं, सो आकर समझो। क्लीयर करके कार्ड में छपाना चाहिए, जो कोई भी समझ जाए। यह बी.के. शिवबाबा की मत पर रामराज्य स्थापन कर रहे हैं, जो गांधी जी की चाहना थी। अखबार में भी ऐसा फुल निमन्त्रण पड़ जाए। यह जरूर समझाना है कि प्रजापिता ब्रह्माकुमार कुमारियाँ अपने तन-मन-धन से यह कर रहे हैं। तो मनुष्य ऐसा कभी न समझें कि यह कोई भीख वा डोनेशन आदि मांगते हैं। दुनिया में तो सब डोनेशन पर ही चलते हैं। यहाँ तुम कहते हो कि हम बी.के. अपने तन-मन-धन से कर रहे हैं। वह खुद ही स्वराज्य लेते हैं तो जरूर अपना ही खर्चा करेंगे। जो मेहनत करते हैं उनको ही 21 जन्मों के लिए वर्सा मिलता है। भारतवासी ही 21 जन्मों के लिए श्रेष्ठाचारी डबल सिरताज बनते हैं। यह लक्ष्मी-नारायण डबल सिरताज हैं ना। अभी तो कोई ताज नहीं रहा है। तो यह अच्छी रीति समझाना पड़े। बाप समझाते हैं ऐसे-ऐसे लिखो तो बिचारों को मालूम पड़े कि बी.के. क्या कर रहे हैं। बड़ों का आवाज होगा तो फिर गरीबों का भी सुनेंगे। नहीं तो गरीब की कोई बात नहीं सुनते। साहूकार का आवाज झट होता है। तुम सिद्धकर बतलाते हो हम खास भारत को स्वर्ग बनाते हैं। बाकी सबको शान्तिधाम में भेज देंगे। समझाना भी ऐसे है। भारत 5 हजार वर्ष पहले ऐसा स्वर्ग था। अभी तो कलियुग है, वह सतयुग था। अब बताओ सतयुग में कितने आदमी थे। अभी कलियुग का अन्त है। यह वही महाभारत महाभारी लड़ाई है। और कोई समय तो ऐसी लड़ाई लगी ही नहीं है। यह भी थर्ड वार पिछाड़ी को हुई है। ट्राई करते हैं ना। अब तो एटॉमिक बॉम्बस बनाते रहते हैं। किसकी भी सुनते नहीं हैं। वह कहते हैं जो बॉम्बस बनाये हुए हैं वह सब समुद्र में डाल दो तो हम भी नहीं बनायें। तुम रखो और हम न बनायें यह कैसे हो सकता। परन्तु तुम बच्चे जानते हो यह तो भावी बनी हुई है। कितना भी उन्हों को मत दें, समझेंगे नहीं। विनाश न हो तो राज्य कैसे करेंगे। तुम बच्चों को तो निश्चय है ना। संशय बुद्धि जो हैं वह भागन्ती हो जाते हैं, ट्रेटर बन जाते हैं। बाप का बनकर फिर ट्रेटर नहीं बनना है। तुमको तो याद करना है शिवबाबा को और बातों से क्या फायदा। सच्चे बाप के साथ सच्चा बनना है। अन्दर एक बाहर में दूसरी रखेंगे तो अपना पद भ्रष्ट कर देंगे। अपना ही नुकसान करेंगे। कल्प – कल्पान्तर के लिए कभी भी ऊंच पद पा नहीं सकेंगे इसलिए इस समय बहुत एक्यूरेट बनना है। कोई ग़फलत नहीं करनी चाहिए। जितना हो सके श्रीमत पर रहना है। निरन्तर याद तो पिछाड़ी में रहेगी। सिवाए एक बाप के और कोई की याद न रहे। गाया हुआ भी है अन्तकाल जो स्त्री सिमरे… जिसमें मोह होगा तो वह याद आ पड़ेगी। आगे चल जितना तुम नज़दीक आते जायेंगे, साक्षात्कार होता जायेगा। बाबा हर एक को दिखायेंगे तुमने ऐसा-ऐसा काम किया है। शुरू-शुरू में भी तुमने साक्षात्कार किये हैं। सज़ायें जो भोगते थे वो बहुत ही चिल्लाते थे। बाबा कहते हैं तुमको दिखलाने के लिए इनकी सौगुणी सज़ायें कटवा दी। तो ऐसा काम नहीं करना है जो बाबा की सर्विस में विघ्न पड़े। पिछाड़ी में भी सब तुमको साक्षात्कार होंगे। ऐसे-ऐसे तुमने बाप की सर्विस में विघ्न बहुत डाल नुकसान किया है। आसुरी सम्प्रदाय हैं ना। जिन्होंने विघ्न डाले हैं उनको बहुत सजा मिलती है। शिवबाबा की बहुत बड़ी दरबार है। राइटहैण्ड में धर्मराज भी है। वह हैं हद की सजायें। यहाँ तो 21 जन्म का घाटा पड़ जाता है, पद भ्रष्ट हो जाता है। हर बात में बाप समझाते रहते हैं। तो ऐसे कोई न कहे कि हमको पता नहीं था इसलिए बाबा सब सावधानी देते रहते हैं। देखते हैं हर एक सेन्टर में कितने भागन्ती होते हैं। तंग करते हैं। विकारी बन जाते हैं। स्कूल में तो पूरी रीति पढ़ना चाहिए। नहीं तो क्या पद पायेंगे। पद का बहुत फर्क पड़ जाता है। जैसे यहाँ दु:खधाम में कोई प्रेजीडेंट है, कोई साहूकार है, कोई गरीब है वैसे वहाँ सुखधाम में भी पद तो नम्बरवार होंगे। जो रॉयल बुद्धिवान बच्चे होंगे, वह बाप से पूरा वर्सा लेने की कोशिश करेंगे। माया की बाक्सिंग है ना। माया बहुत प्रबल है हार जीत होती रहती है। कितने आते हैं फिर ट्रेटर बन चले जाते हैं। चलते-चलते फेल हो जाते हैं। बहुत कहते हैं यह हो कैसे सकता। यह तो कभी नहीं सुना कि गृहस्थ व्यवहार में रहते पवित्र रह सकते हैं। अरे भगवानुवाच है ना – काम महाशत्रु है। गीता में भी यह अक्षर है ना। तुम जानते हो सतयुग में हैं दैवीगुणों वाले मनुष्य और कलियुग में हैं आसुरी अवगुणों वाले। आसुरी गुणों वाले दैवी गुण वालों की महिमा गाते हैं। कितना फ़र्क है। अभी तुम समझते हो हम क्या थे, क्या बन रहे हैं। यहाँ तुमको सब गुण धारण करने हैं। खान-पान आदि भी सतोगुणी खाना है। देखना है देवताओं को क्या खिलाते हैं। श्रीनाथ द्वारे में जाकर देखो – कितने माल अथवा शुद्ध भोजन बनता है। वहाँ हैं ही वैष्णव। और वहाँ जगन्नाथ पुरी में देखो क्या मिलता है? चावल। वहाँ है वाम मार्ग के बहुत गन्दे चित्र। जब राजाई थी तो 36 प्रकार के भोजन मिलते थे। तो श्रीनाथ द्वारे में बहुत माल बनते हैं। पुरी और श्रीनाथ का अलग-अलग है। पुरी के मन्दिर में बहुत गन्दे चित्र हैं, देवताओं की ड्रेस में। तो भोग भी विशेष चावल का लगता है। उसमें घी भी नहीं डालते। यह फ़र्क दिखाते हैं। भारत क्या था फिर क्या बन गया। अभी तो देखो क्या हालत है। पूरा अन्न भी नहीं मिलता है। उन्हों के प्लैन और शिवबाबा के प्लैन में रात दिन का फ़र्क है। वह सब प्लैन मिट्टी में मिल जायेंगे। नेचुरल कैलेमिटीज होगी। अनाज आदि कुछ नहीं मिलेगा, बरसात कहाँ देखो तो बहुत पड़ती। कहाँ बिल्कुल पड़ती नहीं। कितना नुकसान कर देती है। इस समय तत्व भी तमोप्रधान हैं तो बरसात भी उल्टे सुल्टे टाईम पर पड़ती रहती है। तूफान भी तमोप्रधान, सूर्य भी तपत ऐसी करेंगे जो बात मत पूछो। यह नेचुरल कैलेमिटीज ड्रामा में नूँध हैं। उन्हों की है विनाश काले विप्रीत बुद्धि। तुम्हारी है बाप के साथ प्रीत बुद्धि। अज्ञान काल में भी सपूत बच्चों पर माँ बाप का प्यार रहता है इसलिए बाबा कहते भी हैं नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार यादप्यार…जितना-जितना सर्विस करेंगे…खिद्मत तो करनी है ना। भारत की खास और दुनिया की आम, भारत को स्वर्ग बनाना है। बाकी सबको भेज देना है शान्तिधाम। भारत को स्वर्ग का वर्सा मिलता है, बाकी सबको मुक्ति का वर्सा मिलता है। सब चले जायेंगे। हाहाकार के बाद जयजयकार हो जायेगा। कितना हाहाकार मचेगा। यह है ही खूने नाहेक खेल। नेचुरल कैलेमिटीज़ भी आयेंगी। मौत तो सबका होना ही है।

बाप बच्चों को समझाते हैं पूरा पुरूषार्थ कर लो। बाप के साथ सदैव फरमानबरदार, वफादार बनना है। सर्विसएबुल बनना है। जिन्होंने कल्प पहले जैसी सेवा की है, उनका साक्षात्कार होता रहेगा। तुम साक्षी हो देखते रहेंगे। तुम अभी स्वदर्शन चक्रधारी बने हो। सदैव बुद्धि में स्वदर्शन चक्र फिरता रहना चाहिए। हमने 84 जन्म ऐसे-ऐसे लिए हैं। अभी हम वापिस घर जाते हैं। बाप भी याद रहे, घर भी याद रहे, सतयुग भी याद रहे। सारा दिन बुद्धि में यही चिंतन करना है। अभी हम विश्व का महाराजकुमार बनेंगे। हम श्री लक्ष्मी वा श्री नारायण बनेंगे। नशा चढ़ना चाहिए ना। बाबा को नशा रहता है। बाबा रोज़ इस (लक्ष्मी-नारायण के) चित्र को देखते हैं, अन्दर में नशा रहता है ना। बस कल हम जाकर यह श्रीकृष्ण बनेंगे। फिर स्वयंवर बाद श्रीनारायण बनेंगे। तत्त्वम्। तुम भी तो बनेंगे ना। यह है ही राजयोग। प्रजा योग है नहीं। आत्माओं को फिर से अपना राज्य भाग्य मिलता है। बच्चों ने राज्य गँवाया था। अब फिर राज्य ले रहे हैं। बाबा यह चित्र आदि बनाते ही इसलिए हैं कि तुम बच्चों को देखकर खुशी हो। 21 जन्म के लिए हम स्वर्ग का राज्य भाग्य पा रहे हैं। कितना सहज है। यह शिवबाबा, यह प्रजापिता ब्रह्मा इन द्वारा यह राजयोग सिखलाते हैं। फिर हम यह जाकर बनेंगे। देखने से ही खुशी का पारा चढ़ जाता है। हम बाप की याद में रहने से विश्व का राजकुमार बनेंगे। कितनी खुशी रहनी चाहिए। हम भी पढ़ रहे हैं, तुम भी पढ़ रहे हो। इस पढ़ाई के बाद हम जाकर यह बनेंगे। सारा मदार पढ़ाई पर है। जितना पढ़ेंगे उतना कमाई होगी ना। बाबा ने बतलाया है कोई सर्जन तो इतने होशियार होते हैं जो लाख रूपया भी एक केस पर कमाते हैं। बैरिस्टर्स में भी ऐसे होते हैं। कोई तो बहुत कमाते हैं, कोई को देखो तो कोट भी फटा हुआ पड़ा होगा। यह भी ऐसे है इसलिए बाबा बार-बार कहते हैं बच्चे, कोई भी ग़फलत नहीं करो। सदैव श्रीमत पर चलो। श्री श्री शिवबाबा से तुम श्रेष्ठ बनते हो। तुम बच्चों ने बाप से अनेक बार वर्सा लिया है और गँवाया है। 21 जन्मों का वर्सा आधाकल्प के लिए मिलता है। आधाकल्प 2500 वर्ष सुख पाते हो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अन्दर बाहर सच्चा रहना है। पढ़ाई में कभी भी ग़फलत नहीं करना है। कभी भी संशय बुद्धि बन पढ़ाई नहीं छोड़नी है। सर्विस में विघ्न रूप नहीं बनना है।

2) सबको यही खुशखबरी सुनाओ कि हम पवित्रता के बल से, श्रीमत पर अपने तन-मन-धन के सहयोग से 21 जन्मों के लिए भारत को श्रेष्ठाचारी डबल सिरताज बनाने की सेवा कर रहे हैं।

वरदान:- सेकण्ड में संकल्पों को स्टॉप कर अपने फाउन्डेशन को मजबूत बनाने वाले पास विद आनर भव
कोई भी पेपर परिपक्व बनाने के लिए, फाउण्डेशन को मजबूत करने के लिए आते हैं, उसमें घबराओ नहीं। बाहर की हलचल में एक सेकेण्ड में स्टॉप करने का अभ्यास करो, कितना भी विस्तार हो एक सकेण्ड में समेट लो। भूख प्यास, सर्दी गर्मी सब कुछ होते हुए संस्कार प्रकट न हों, समेटने की शक्ति द्वारा स्टॉप लगा दो। यही बहुत समय का अभ्यास पास विद आनर बना देगा।
स्लोगन:- अपने सुख शान्ति के वायब्रेशन से लोगों को सुख चैन की अनुभूति कराना ही सच्ची सेवा है।
Font Resize