BRAHMAKUMARIS Aaj Ka Purusharth 31 MAY 2019 – आज का पुरूषार्थ

Om Shanti
31.05.2019

★【 आज का पुरूषार्थ】★

बाबा कहते हैं … बच्चे, मुझे आपके संकल्पों का सहयोग चाहिए।

बस, आप तो संकल्पों की स्थिरता के द्वारा अपनी seat पर set रहो। 
देखो, set का भी अर्थ समझो … set माना set – कोई हलचल नहीं…।

आपके संकल्पों का minor सा भी ऊँचा-नीचा अर्थात् पता नहीं क्या, क्यों, कैसे, ऐसे, वैसे … बाप के कार्य की speed कम कर देता है।

अब तो आप knowledgeful बन seat पर set रहो, फिर तो झट-पट कार्य सम्पन्न हो जायेगा…।

बस, अपनी seat पर set हो, अन्य आत्माओं के कल्याण की भावना रखनी है। बहुत जल्द से जल्द, उससे भी जल्द आपके संकल्प सिद्ध होने शुरू हो जायेंगे…, लेकिन उससे पहले आपके एक-एक संकल्प की भावना बहुत ऊँच, कल्याणकारी अर्थात् किसी भी आत्मा के कर्मों के according नहीं होनी चाहिए, क्योंकि इस समय लौकिक और अलौकिक … सभी आत्मायें बहुत कमज़ोर हो चुकी है, इसलिए आप तो केवल अपनी विशेषताओं के according ही अर्थात् उच्चतम् स्वमान के according ही अपने संकल्प और भाव रखो…।

आपके संकल्पों की vibrations, आत्माओं के कल्याण के निमित्त बनती है … तो साथ ही साथ उन्हें अपनी post तक पहुँचने में रोकती भी हैं…!

बस, आप तो बाप-समान seat पर अर्थात् सभी आत्माओं के पिता बन, सबके कल्याण के निमित्त बन जाओ।

देखो, जो बाप आपको पढ़ाई पढ़ा रहा है … यह बाप के कार्य की speed और समय की speed को दर्शाता है। 
बस, आप तो स्वयं पर 100% attention रख, आगे से आगे बढ़ो। 
Attention में minor सा भी हल्का ना हो … हल्के रह परमात्मा बाप के कार्य को सम्पन्न करने में सहयोगी बनो।

अब सूक्ष्म सेवा शुरू करो। अपने अलौकिक परिवार में चारों तरफ light ही light फैला दो, ताकि जल्दी से जल्दी यज्ञ की आत्मायें अपनी-अपनी seat पर set होना शुरू हो जायें…।

आपके अन्दर यही लगन होनी चाहिए कि अब जल्द से जल्द कार्य सम्पन्न हो। 
Charity begins at home…

बस, अपनी ज़िम्मेवारी समझ अर्थात् ज़िम्मेवार बन अब समय अनुसार अपनी अलौकिक नांव को किनारे पर लगाओ। सब आपको पुकार रहे हैं…।

अच्छा। ओम् शान्ति।

【 Peace Of Mind TV 】
Dish TV # 1087 | Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 |
Jio TV |

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Font Resize