BRAHMAKUMARIS Aaj Ka Purusharth 22 MAY 2019 – आज का पुरूषार्थ

Om Shanti
22.05.2019

★【 आज का पुरूषार्थ】★

बाबा कहते हैं … बस बच्चे, जो पढ़ाई अभी बाप ने आपको पढ़ाई है और भिन्न-भिन्न अभ्यास आपको बताये हैं, उसी according स्वयं पर attention दे करते रहो। 
भिन्न-भिन्न स्वमान का अभ्यास करते रहो…।

बार-बार आप अपनी seat पर set हो जाओ…,
• कभी light रूप में, 
• कभी भिन्न-भिन्न पूज्य स्वरूप में, और 
• कभी चलता-फिरता light house, might house फरिश्ता रूप में…।

जितना-जितना आप attention दे यह अभ्यास करोगे, उतनी ही जल्दी आपकी प्रत्यक्षता शुरू हो जायेगी।

देखो;
जैसे एक मंदिर की स्थापना होती है, तो पहले मंदिर बनता है फिर उसमें मूर्ति स्थापन की जाती है। धीरे-धीरे भक्त दर्शन करने आते हैं … और जैसे-जैसे कुछ एक भक्त की भी इच्छा पूर्ण होती है, तो वह मंदिर मशहुर हो जाता है…।

इसी तरह, आप सारा कार्य एक साथ कर रहे हो – शरीर रूपी मंदिर को तैयार करना और चैतन्य रूप में देवी या देवता बन बैठ जाना … और जैसे ही आप प्रभाव-मुक्त हो seat पर set हो जाओगे, तो आपका प्रत्यक्षता का कार्य शुरू हो जायेगा।

देखो बच्चे, बाप तो गुप्त है, करावनहार है…, करनहार आप हो…। 
तो विभिन्न देवी-देवता रूप में प्रत्यक्ष भी आप होंगे। आपका बाबा तो केवल light रूप में ही जाना जायेगा।

जितना आप इच्छा मात्रम् अविद्या अर्थात् सम्पन्न, संतुष्ट … स्वयं में भरपूरता महसूस करोगे अर्थात no question – no complaint, एक single second के लिए या एक single संकल्प में, तब ही तो आप दाता बन सबका कल्याण करोगे…।

बस बच्चे, आप निश्चिन्त रह स्वयं पर 100% attention रख जैसे बाप कहें वैसे करते जाओ…। काफी परिवर्तन हो चुका है जो आपको पता नहीं…! 
इसलिए last में कुछ percent अचानक ही परिवर्तन हो जायेंगे, क्योंकि हर कार्य slow start होता है, फिर जब करना आ जाये तो finish भी एक second में हो जाता है अर्थात् अचानक हो जाता है और पता भी नहीं चलता…!

क्योंकि यह एक ऐसा कार्य है जो दिख नहीं रहा, बस आप अनुभव द्वारा ही जान सकते हो…।

अच्छा। ओम् शान्ति।

【 Peace Of Mind TV 】
Dish TV # 1087 | Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 |
Jio TV |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Font Resize