Month: September 2019

TODAY MURLI 1 OCTOBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 1 October 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 30 September 2019:- Click Here

01/10/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, hear no evil! You are sitting here in the company of the Truth. You must not go into the bad company of Maya. By being influenced by bad company, you choke with doubts.
Question: Why can no human being at this time be called spiritual?
Answer: Because all are body conscious. How can those who are body conscious be called spiritual? Only the one incorporeal Father is the spiritual Father. Only He gives you teachings to become soul conscious. The title “the Supreme” can only be given to the Father. No one, apart from the Father, can be called “The Supreme.

Om shanti. When you children sit here, you know that Baba is your Baba, Teacher and Satguru. There is a need for all three. First is the Father, then the Teacher who teaches you and then, at the end, there is the Guru. Here, you have to have remembrance in this way, because this is something new. He is also the unlimited Father. Unlimited means He belongs to everyone. Anyone who comes here would be told: Keep this in your awareness. If any of you have doubts about this, raise your hand! This is something wonderful. For birth after birth, you never found anyone whom you would consider to be your father, teacher and satguru, and that too, the Supreme. He is the unlimited Father, the unlimited Teacher and the unlimited Satguru. Did you ever find anyone like that? You cannot find anyone like that at any time other than at this most auspicious confluence age. If any of you have doubts about this, you can raise your hand. The intellect of everyone sitting here has this faith. These three are the main ones. The unlimited Father gives you unlimited knowledge. There is just this unlimited knowledge. You have been studying many types of limited knowledge. Some become lawyers, some become surgeons, because all are needed here: doctors, lawyers, judges; etc. There is no need for them there. There is no question of sorrow there. So, the Father now sits here and gives you children unlimited teachings. Only the unlimited Father gives you unlimited teachings, and you will then not need to study anything for half the cycle. You receive these teachings only once, that is, they are fruitful, that is, you receive the fruit of them for 21 births. Doctors, barristers, judges etc. do not exist there. You have the faith that it truly is like this. There is no sorrow there. There is no suffering of karma there. The Father sits here and explains to you the philosophy of karma. Do those people who relate the Gita tell you this? The Father says: I teach you children Raja Yoga. They have written “God Krishna speaks” in that. However, he is a human being with divine virtues. No one uses the name “Shiv Baba.” He doesn’t have any other name. The Father says: I take this body on loan. This body, this building, does not belong to Me. It is this one’s building. It has windows, etc. So, the Father explains: I am your unlimited Father, that is, I am the Father of all souls. I also teach you souls. He is called the spiritual Father. No one else can be called a spiritual father. Here, you children know that that One is the unlimited Father. A spiritual conference is now taking place. In fact, that is not a spiritual conference. They are not truly spiritual; they are body conscious. The Father says: Children, may you be soul conscious! Renounce the arrogance of the body. They would not be able to say that to anyone. The word “spiritual” is only used now. Previously, they just used to call them religious conferences. No one understands the meaning of spiritual. “The spiritual Father means the incorporeal Father. You souls are spiritual children. The spiritual Father comes and teaches you. No one else can have this understanding. The Father Himself sits here and tells you who He is. This is not mentioned in the Gita. I am giving you unlimited teachings. There is no need there for lawyers, judges, surgeons, etc., because there is nothing but happiness there. There is no name or trace of sorrow there. Here, there is no name or trace of happiness; it is said to have disappeared. They believe that happiness is like the droppings of a crow. They only have a little happiness, and so how could they give the knowledge of unlimited happiness? Previously, when it was the kingdom of deities, there was 100% truth, whereas now there is only falsehood. This is unlimited knowledge. You know that this is the human world tree and that I am its Seed. He has all the knowledge of the tree. People do not have this knowledge. I am the Living Seed. People call Me the Ocean of Knowledge. You receive liberation and salvation in a second through knowledge. I am the Father of all. By recognising Me, you children receive the inheritance. However, there is the kingdom too. There are many numberwise levels of status, in heaven too. The Father teaches the same study, but those who are studying are numberwise. There is no need for any other study in this. There is no one ill there. They don’t study for an income worth a few pennies. You take from here the unlimited inheritance with you. There, you won’t know how someone gave you that status. Only at this time do you understand this. You have been studying limited knowledge, and you have now recognised and come to know the One who teaches you unlimited knowledge. You know that the Father is the Father, as well as the Teacher who comes and teaches us. He is the Supreme Teacher and He teaches Raja Yoga. He is also the true Satguru. This is unlimited Raja Yoga. Those people would only teach you how to become a barrister or a doctor, because this is the world of sorrow. All of those studies are limited, whereas this is an unlimited study. The Father is teaching you this unlimited study. You also know that that Father, Teacher and Satguru comes every cycle and that He teaches the same study for the golden and silver ages. Then He disappears. Your reward of happiness comes to an end according to the drama. This unlimited Father sits here and explains to you. Only He is called the Purifier. Would you say to Krishna, “You are the Mother and Father” or “the Purifier”? There is the difference of day and night between the status of this one (Krishna) and that One. The Father now says: By recognising Me, you can attain liberation-in-life in a second. If Krishna were God, anyone would instantly be able to recognise him. The birth of Krishna is not remembered as a divine and alokik birth. He takes birth just through purity. The Father does not emerge from anyone’s womb. He says: Sweetest, spiritual children! It is spirits that study. All good and bad sanskars remain in each soul. Souls perform actions and they receive bodies accordingly. Some experience a lot of sorrow, some are one-eyed and some are deaf. It would be said that they must have performed such actions in the past and that that is the fruit of them. A soul receives a diseased body, etc. according to the actions that that soul performed. You children now know that it is God, the Father, who is teaching you. God is the Teacher. God is the Preceptor. He is called God, Param Atma, and that means God, the Supreme Soul. Brahma cannot be called “The Supreme. “The Supreme means the Highest on High, the purest of all. Everyone has a different status. No one else can receive the status of Krishna. No one else would be given the status of Prime Minister. The Father’s status too is different from that of Brahma, Vishnu and Shankar. Brahma, Vishnu and Shankar are deities, whereas Shiva is the Supreme Soul. How can they put the two of them together and speak of Shiva-Shankar? Each is separate. Because of not understanding this, they say that Shiva and Shankar are one. They even give such names to people. The Father Himself comes and explains all of these things. You know that that One is Baba, the Teacher and the Satguru. Every human being has a father, a teacher and a guru. When they become old, they adopt gurus. Nowadays, children are made to adopt gurus, because they believe that if the child doesn’t have a guru, there will be disobedience. Previously, people used to adopt gurus after the age of 60, the stage of retirement. Nirvana means beyond sound, the sweet silence home, and you have been making effort for half the cycle to go there. However, if no one knows about it, no one can go there. How can they show the path to anyone else? No one, apart from the One, can show you the path. Not everyone’s intellect is the same. Some simply listen to religious stories, but there is no benefit in those; there is no benefit. You are now becoming flowers of the garden. You became thorns from flowers and the Father is now making you into flowers from thorns. You were worthy of worship and you then became worshippers. From being satopradhan, you became tamopradhan and impure while taking 84 births. The Father has explained the picture of the ladder to you. No one knows how you now become pure from impure. People sing: O Purifier, come! Come and make us pure! In that case, why do they consider river water and the ocean to be the Purifier and go and bathe in that? They call the Ganges the Purifier, but where did rivers emerge from? They all emerged from the ocean. All of them are the children of the ocean. So, everything has to be understood very clearly. You children sitting here are in the company of the Truth. When you go into bad company outside, they tell you wrong things and you then forget all of these things. By going into bad company, you begin to choke. It is then that you know about doubts. However, these things should not be forgotten. Our Baba is the unlimited Baba, the Teacher and He also takes us across. You have come here with this faith. All the rest is worldly education and worldly languages. This is alokik. The Father says: My birth, too, is alokik. I take a body on loan. I take an old shoe. This is the oldest of the old; this is the oldest shoe. The body that the Father has taken is called a long boot. This is such an easy thing. This is not something to be forgotten. However, Maya even makes you forget such easy things. The Father is the Father. He also gives unlimited teachings which no one else can give. The Father says: You may go outside and see if you receive them anywhere else. All are human beings. They cannot give this knowledge. God only takes the one chariot which is called “The Lucky Chariot”. The Father enters this in order to make you multimillion times fortunate. He is the closest bead. Brahma then becomes Vishnu. Shiv Baba makes this one that and He also makes you into the masters of the world through this one. The land of Vishnu is being established. This is called Raja Yoga to establish a kingdom. Everyone here is listening but Baba knows that it flows away out of the ears of many, whereas some are able to imbibe it and then relate it to others. They are called maharathis. They listen to it and imbibe it and then also explain to others with interest. If the person explaining is a maharathi, others will understand quickly. They will understand less from a horse rider and even less from a foot soldier. The Father knows who the maharathis are and who the horse riders are. There is no question of becoming confused about this. However, Baba sees that some children continue to become confused and then continue tonod off. They sit with their eyes closed. Would someone nod off while earning an income? If you continue to nod off, how would you be able to imbibe this? If someone yawns, Baba understands that he is tired. There can never be tiredness in earning an income. Yawning is a sign of unhappiness. Those who continue to choke inside about something or other will yawn a lot. You are now sitting in the Father’s home; this is also a family. He becomes the Teacher and also the Guru to show you the path. You are called master gurus. Therefore, each of you should now become a right hand of the Father so that you can benefit many others. In all other businesses there is some loss, whereas you change from an ordinary man into Narayan without any loss. Everyone’s earnings are finished. Only the Father teaches you the business of changing from an ordinary man into Narayan. So, then, which study should you pursue? Those who have a lot of wealth think that heaven is here. Did Bapu Gandhiji establish the kingdom of Rama? Ah! It is the same tamopradhan world, and sorrow continues to increase even more. How could this be called the kingdom of Rama? People have become so senseless! Those who are senseless are said to be tamopradhan. Those who are sensible are satopradhan. This cycle continues to turn. There is nothing to ask the Father about in this. It is the Father’s duty to give you the knowledge of the Creator and creation and He continues to do that. He continues to explain everything in the murlis. You receive a response to everything. So, what else would you ask? No one except the Father can explain, so how can you ask anything? You can also write on a board: Come inside and understand how to become everhealthy and everwealthy for 21 births. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Listen very well to what the Father says and imbibe it. Have an interest in relating it to others. Do not just hear it with one ear and let it out of the other. Never yawn at the time of earning an income.
  2. Become the Father’s right hand and bring benefit to many others. Do the business of becoming Narayan and making others Narayan from ordinary human beings.
Blessing: May you be a decorated image whose activity and face show the sparkle of the decoration of purity.
Purity is the decoration of Brahmin life. Let everyone experience the decoration of purity at every moment on your face and in your activity. Let the decoration of purity always be visible in your drishti, on your face and on your hands and feet. Let everyone say that purity is visible in this one’s features. Let there be the sparkle of purity in your eyes and the smile of purity on your lips. Let nothing else be seen: this is known as being an image that is decorated with purity.
Slogan: Wasteful relationships and connections empty your account and so, finish everything wasteful.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 1 OCTOBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 October 2019

To Read Murli 30 September 2019:- Click Here
01-10-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – हियर नो ईविल…… यहाँ तुम सतसंग में बैठे हो, तुम्हें मायावी कुसंग में नहीं जाना है, कुसंग लगने से ही संशय के रूप में घुटके आते हैं”
प्रश्नः- इस समय किसी भी मनुष्य को स्प्रीचुअल नहीं कह सकते हैं – क्यों?
उत्तर:- क्योंकि सभी देह-अभिमानी हैं। देह-अभिमान वाले स्प्रीचुअल कैसे कहला सकते हैं। स्प्रीचुअल फादर तो एक ही निराकार बाप है जो तुम्हें भी देही-अभिमानी बनने की शिक्षा देते हैं। सुप्रीम का टाइटिल भी एक बाप को ही दे सकते हैं, बाप के सिवाए सुप्रीम कोई भी कहला नहीं सकते।

ओम् शान्ति। बच्चे जब यहाँ बैठते हो तो जानते हो बाबा हमारा बाबा भी है, टीचर भी है और सतगुरू भी है। तीन की दरकार रहती है। पहले बाप फिर पढ़ाने वाला टीचर और फिर पिछाड़ी में गुरू। यहाँ याद भी ऐसे करना है क्योंकि नई बात है ना। बेहद का बाप भी है, बेहद का माना सबका। यहाँ जो भी आयेंगे कहेंगे यह स्मृति में लाओ। इसमें किसको संशय हो तो हाथ उठाओ। यह वन्डरफुल बात है ना। जन्म-जन्मान्तर कभी ऐसा कोई मिला होगा जिसको तुम बाप, टीचर, सतगुरू समझो। सो भी सुप्रीम। बेहद का बाप, बेहद का टीचर, बेहद का सतगुरू। ऐसा कभी कोई मिला? सिवाए इस पुरूषोत्तम संगमयुग के कभी मिल न सके। इसमें कोई को संशय हो तो हाथ उठावे। यहाँ सब निश्चय बुद्धि होकर बैठे हैं। मुख्य हैं ही यह तीन। बेहद का बाप नॉलेज भी बेहद की देते हैं। बेहद की नॉलेज तो यह एक ही है। हद की नॉलेज तो तुम अनेक पढ़ते आये हो। कोई वकील बनते हैं, कोई सर्जन बनते हैं क्योंकि यहाँ तो डॉक्टर, जज, वकील आदि सब चाहिए ना। वहाँ तो दरकार नहीं। वहाँ दु:ख की कोई बात ही नहीं। तो अब बाप बैठ बेहद की शिक्षा बच्चों को देते हैं। बेहद का बाप ही बेहद की शिक्षा देते हैं फिर आधाकल्प कोई शिक्षा तुमको पढ़ने की नहीं है। एक ही बार शिक्षा मिलती है जो 21 जन्मों के लिए फलीभूत होती है अर्थात् उनका फल मिलता है। वहाँ तो डॉक्टर, बैरिस्टर, जज आदि होते नहीं। यह तो निश्चय है ना। बरोबर ऐसे है ना? वहाँ दु:ख होता नहीं। कर्मभोग होता नहीं। बाप कर्मों की गति बैठ समझाते हैं। वह गीता सुनाने वाले क्या ऐसे सुनाते हैं? बाप कहते हैं मैं तुम बच्चों को राजयोग सिखाता हूँ। उसमें तो लिख दिया है कृष्ण भगवानुवाच। परन्तु वह है दैवीगुणों वाला मनुष्य। शिवबाबा तो कोई नाम धरते नहीं। उनका दूसरा कोई नाम नहीं। बाप कहते हैं मैं यह शरीर लोन लेता हूँ। यह शरीर रूपी मकान हमारा नहीं है, यह भी इनका मकान है। खिड़कियाँ आदि सब हैं। तो बाप समझाते हैं मैं तुम्हारा बेहद का बाप अर्थात् सभी आत्माओं का बाप हूँ, पढ़ाता भी हूँ आत्माओं को। इनको कहा जाता है स्प्रीचुअल फादर अर्थात् रूहानी बाप और कोई को भी रूहानी बाप नहीं कहेंगे। यहाँ तुम बच्चे जानते हो यह बेहद का बाप है। अब स्प्रीचुअल कान्फ्रेन्स हो रही है। वास्तव में स्प्रीचुअल कान्फ्रेन्स तो है ही नहीं। वह तो सच्चे स्प्रीचुअल हैं नहीं। देह-अभिमानी हैं। बाप कहते हैं – बच्चे, देही-अभिमानी भव। देह का अभिमान छोड़ो। ऐसे थोड़ेही किसको कहेंगे। स्प्रीचुअल अक्षर अभी डालते हैं। आगे सिर्फ रिलीजस कान्फ्रेन्स कहते थे। स्प्रीचुअल का कोई अर्थ नहीं समझते हैं। स्प्रीचुअल फादर अर्थात् निराकारी फादर। तुम आत्मायें हो स्प्रीचुअल बच्चे। स्प्रीचुअल फादर आकर तुमको पढ़ाते हैं। यह समझ और कोई में हो न सके। बाप खुद बैठ बतलाते हैं कि मैं कौन हूँ। गीता में यह नहीं है। मैं तुमको बेहद की शिक्षा देता हूँ। इसमें वकील, जज, सर्जन आदि की दरकार नहीं क्योंकि वहाँ तो एकदम सुख ही सुख है। दु:ख का नाम-निशान नहीं होता। यहाँ फिर सुख का नाम-निशान नहीं है, इसको कहा जाता है प्राय:लोप। सुख तो काग विष्टा समान है। जरा-सा सुख है तो बेहद सुख की नॉलेज दे कैसे सकते। पहले जब देवी-देवताओं का राज्य था तो सत्यता 100 प्रतिशत थी। अभी तो झूठ ही झूठ है।

यह है बेहद की नॉलेज। तुम जानते हो यह मनुष्य सृष्टि रूपी झाड़ है, जिसका बीजरूप मैं हूँ। उनमें झाड़ की सारी नॉलेज है। मनुष्यों को यह नॉलेज नहीं है। मैं चैतन्य बीजरूप हूँ। मुझे कहते ही हैं ज्ञान का सागर। ज्ञान से सेकण्ड में गति-सद्गति होती है। मैं हूँ सबका बाप। मुझे पहचानने से तुम बच्चों को वर्सा मिल जाता है। परन्तु राजधानी है ना। स्वर्ग में भी मर्तबे तो नम्बरवार बहुत हैं। बाप एक ही पढ़ाई पढ़ाते हैं। पढ़ने वाले तो नम्बरवार ही होते हैं। इसमें फिर और कोई पढ़ाई की दरकार नहीं रहती। वहाँ कोई बीमार होता नहीं। पाई पैसे की कमाई के लिए पढ़ाई नहीं पढ़ते। तुम यहाँ से बेहद का वर्सा ले जाते हो। वहाँ यह मालूम नहीं पड़ेगा कि यह पद हमको कोई ने दिलाया है। यह तुम अभी समझते हो। हद की नॉलेज तो तुम पढ़ते आये हो। अब बेहद की नॉलेज पढ़ाने वाले को देख लिया, जान लिया। जानते हो बाप, बाप भी है, टीचर भी है, आकर हमको पढ़ाते हैं। सुप्रीम टीचर है, राजयोग सिखलाते हैं। सच्चा सतगुरू भी है। यह है बेहद का राजयोग। वह बैरिस्टरी, डॉक्टरी ही सिखलायेंगे क्योंकि यह दुनिया ही दु:ख की है। वह सब है हद की पढ़ाई, यह है बेहद की पढ़ाई। बाप तुमको बेहद की पढ़ाई पढ़ाते हैं। यह भी जानते हो यह बाप, टीचर, सतगुरू कल्प-कल्प आते हैं फिर यही पढ़ाई पढ़ाते हैं सतयुग-त्रेता के लिए। फिर प्राय:लोप हो जाता है। सुख की प्रालब्ध पूरी हो जाती है ड्रामा अनुसार। यह बेहद का बाप बैठ समझाते हैं, उनको ही पतित-पावन कहा जाता है। कृष्ण को त्वमेव माता च पिता वा पतित-पावन कहेंगे क्या? इनके मर्तबे और उनके मर्तबे में रात-दिन का फ़र्क है। अब बाप कहते हैं मुझे पहचानने से तुम सेकण्ड में जीवनमुक्ति पा सकते हो। अब कृष्ण भगवान् अगर होता तो कोई भी झट पहचान ले। कृष्ण का जन्म कोई दिव्य अलौकिक नहीं गाया हुआ है। सिर्फ पवित्रता से होता है। बाप तो कोई के गर्भ से नहीं निकलते हैं। समझाते हैं मीठे-मीठे रूहानी बच्चों, रूह ही पढ़ती है। सब संस्कार अच्छे वा बुरे रूह में रहते हैं। जैसे-जैसे कर्म करते हैं, उस अनुसार उन्हें शरीर मिलता है। कोई बहुत दु:ख भोगते हैं। कोई काने, कोई बहरे होते हैं। कहेंगे पास्ट में ऐसे कर्म किये हैं जिसका यह फल है। आत्मा के कर्मों अनुसार ही रोगी शरीर आदि मिलता है।

अभी तुम बच्चे जानते हो – हमको पढ़ाने वाला है गॉड फादर। गॉड टीचर, गॉड प्रीसेप्टर है। उसको कहते है गॉड परम आत्मा। उसको मिलाकर परमात्मा कहते हैं, सुप्रीम सोल। ब्रह्मा को तो सुप्रीम नहीं कहेंगे। सुप्रीम अर्थात् ऊंच ते ऊंच, पवित्र ते पवित्र। मर्तबे तो हरेक के अलग-अलग हैं। कृष्ण का जो मर्तबा है वह दूसरे को मिल नहीं सकता। प्राइम मिनिस्टर का मर्तबा दूसरे को थोड़ेही देंगे। बाप का भी मर्तबा अलग है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर का भी अलग है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर देवता है, शिव तो परमात्मा है। दोनों को मिलाकर शिव शंकर कैसे कहेंगे। दोनों अलग-अलग हैं ना। न समझने के कारण शिव शंकर को एक कह देते हैं। नाम भी ऐसे रख देते हैं। यह सब बातें बाप ही आकर समझाते हैं। तुम जानते हो यह बाबा भी है, टीचर भी है, सत-गुरू भी है। हरेक मनुष्य को बाप भी होता है, टीचर भी होता है और गुरू भी होता है। जब बुढ़े होते हैं तो गुरू करते हैं। आजकल तो छोटेपन में ही गुरू करा देते हैं, समझते हैं अगर गुरू नहीं किया तो अवज्ञा हो जायेगी। आगे 60 वर्ष के बाद गुरू करते थे। वह होती है वानप्रस्थ अवस्था। निर्वाण अर्थात् वाणी से परे स्वीट साइलेन्स होम, जिसमें जाने के लिए आधाकल्प तुमने मेहनत की है। परन्तु पता ही नहीं तो कोई जा नहीं सकते। किसको रास्ता बता कैसे सकते। एक के सिवाए तो कोई रास्ता बता न सके। सबकी बुद्धि एक जैसी नहीं होती है। कोई तो जैसे कथायें सुनते हैं, फायदा कुछ नहीं। उन्नति कुछ नहीं। तुम अभी बगीचे के फूल बनते हो। फूल से कांटे बने, अब फिर कांटे से फूल बाप बनाते हैं। तुम ही पूज्य फिर पुजारी बने। 84 जन्म लेते-लेते सतोप्रधान से तमोप्रधान पतित बन गये। बाप ने सीढ़ी सारी समझाई है। अब फिर पतित से पावन कैसे बनते हैं, यह किसको भी पता नहीं। गाते भी हैं ना हे पतित-पावन आओ, आकर हमको पावन बनाओ फिर पानी की नदियाँ सागर आदि को पतित-पावन समझ क्यों जाकर स्नान करते हैं। गंगा को पतित-पावनी कह देते हैं। परन्तु नदियां भी कहाँ से निकली? सागर से ही निकलती हैं ना। यह सभी सागर की सन्तान हैं तो हरेक बात अच्छी रीति समझने की होती है।

यहाँ तो तुम बच्चे सतसंग में बैठे हो। बाहर कुसंग में जाते हो तो तुमको बहुत उल्टी बातें सुनायेंगे। फिर यह इतनी सब बातें भूल जायेंगी। कुसंग में जाने से घुटका खाने लग पड़ते हैं, संशय का तब मालूम पड़ता है। परन्तु यह बातें तो भूलनी नहीं चाहिए। बाबा हमारा बेहद का बाबा भी है, टीचर भी है, पार भी ले जाते हैं, इस निश्चय से तुम आये हो। वह सभी हैं जिस्मानी लौकिक पढ़ाई, लौकिक भाषायें। यह है अलौकिक। बाप कहते हैं मेरा जन्म भी अलौकिक है। मैं लोन लेता हूँ। पुरानी जुत्ती लेता हूँ। सो भी पुराने ते पुरानी, सबसे पुरानी है यह जुत्ती। बाप ने जो लिया है, इसको लांग बूट कहते हैं। यह कितनी सहज बात है। यह तो कोई भूलने की नहीं है। परन्तु माया इतनी सहज बातें भी भुला देती है। बाप, बाप भी है, बेहद की शिक्षा देने वाला भी है, जो और कोई दे न सके। बाबा कहते हैं भल जाकर देखो कहाँ से मिलती है। सब हैं मनुष्य। वह तो यह नॉलेज दे न सकें। भगवान एक ही रथ लेते हैं, जिसको भाग्यशाली रथ कहा जाता है, जिसमें बाप की प्रवेशता होती है, पदमापदम भाग्यशाली बनाने। बिल्कुल नजदीक का दाना है। ब्रह्मा सो विष्णु बनते हैं। शिव-बाबा इनको भी बनाते हैं, तुमको भी इन द्वारा विश्व का मालिक बनाते हैं। विष्णु की पुरी स्थापन होती है, इसको कहा जाता है राजयोग, राजाई स्थापन करने लिए। अभी यहाँ सुन तो सब रहे हैं, परन्तु बाबा जानते हैं बहुतों के कानों से बह जाता है, कोई धारण कर और सुना सकते हैं। उनको कहा जाता है महारथी। सुनकर फिर धारण करते हैं, औरों को भी रूचि से समझाते हैं। महारथी समझाने वाला होगा तो झट समझेंगे, घोड़े-सवार से कम, प्यादे से और भी कम। यह तो बाप जानते हैं कौन महारथी हैं, कौन घोड़ेसवार हैं। अब इसमें मूँझने की तो बात ही नहीं। परन्तु बाबा देखते रहते हैं बच्चे मूँझते हैं फिर झुटके खाते रहते हैं। आंखें बन्द कर बैठते हैं। कमाई में कभी घुटका आता है क्या? झुटका खाते रहेंगे तो फिर धारणा कैसे होगी। उबासी से बाबा समझ जाते हैं यह थका हुआ है। कमाई में कभी थकावट नहीं होती। उबासी है उदासी की निशानी। कोई न कोई बात के घुटके अन्दर खाते रहने वालों को उबासी बहुत आती है। अभी तुम बाप के घर में बैठे हो, तो परिवार भी है, टीचर भी बनते हैं, गुरू भी बनते हैं रास्ता बताने के लिए। मास्टर गुरू कहा जाता है। तो अब बाप का राइट हैण्ड बनना चाहिए ना। जो बहुतों का कल्याण कर सकते हैं। धन्धे सभी में है नुकसान, बिगर धन्धे नर से नारायण बनने के। सभी की कमाई खत्म हो जाती है। नर से नारायण बनने का धन्धा बाप ही सिखलाते हैं। तो फिर कौन सी पढ़ाई पढ़नी चाहिए। जिनके पास धन बहुत है, वह समझते हैं स्वर्ग तो यहाँ ही है। बापू गांधी ने रामराज्य स्थापन किया? अरे, दुनिया तो यह पुरानी तमोप्रधान है ना और ही दु:ख बढ़ता जाता है, इनको रामराज्य कैसे कहेंगे। मनुष्य कितने बेसमझ बन पड़े हैं। बेसमझ को तमोप्रधान कहा जाता है। समझदार होते हैं सतोप्रधान। यह चक्र फिरता रहता है, इसमें कुछ भी बाप से पूछने का नहीं रहता। बाप का फ़र्ज है रचता और रचना की नॉलेज देना। वह तो देते रहते हैं। मुरली में सब समझाते रहते हैं। सभी बातों का रेसपॉन्ड मिल जाता है। बाकी पूछेंगे क्या? बाप के सिवाए कोई समझा ही नहीं सकते तो पूछ भी कैसे सकते। यह भी तुम बोर्ड पर लिख सकते हो एवरहेल्दी, एवरवेल्दी 21 जन्म के लिए बनना है तो आकर समझो। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप जो सुनाते हैं उसे सुनकर अच्छी तरह धारण करना है। दूसरों को रूचि से सुनाना है। एक कान से सुन दूसरे से निकालना नहीं है। कमाई के समय कभी उबासी नहीं लेनी है।

2) बाबा का राइट हैण्ड बन बहुतों का कल्याण करना है। नर से नारायण बनने और बनाने का धन्धा करना है।

वरदान:- चलन और चेहरे से पवित्रता के श्रृंगार की झलक दिखाने वाले श्रंगारी मूर्त भव
पवित्रता ब्राह्मण जीवन का श्रंगार है। हर समय पवित्रता के श्रंगार की अनुभूति चेहरे वा चलन से औरों को हो। दृष्टि में, मुख में, हाथों में, पांवों में सदा पवित्रता का श्रंगार प्रत्यक्ष हो। हर एक वर्णन करे कि इनके फीचर्स से पवित्रता दिखाई देती है। नयनों में पवित्रता की झलक है, मुख पर पवित्रता की मुस्कराहट है। और कोई बात उन्हें नज़र न आये – इसको ही कहते हैं – पवित्रता के श्रंगार से श्रंगारी हुई मूर्त।
स्लोगन:- व्यर्थ सम्बन्ध-सम्पर्क भी एकाउन्ट को खाली कर देता है इसलिए व्यर्थ को समाप्त करो।

Aaj ki murli October 2019 – Om shanti murli today

ब्रह्माकुमारी मुरली : आज की मुरली (हिंदी मुरली)

Brahma kumaris Om Shanti Murli : Aaj ki Murli October 2019

Om Shanti Murli : गूगल ड्राइव से आज की मुरली डाउनलोड कर सकते हैं।

01-10-2019 02-10-2019 03-10-2019 04-10-2019 05-10-2019
06-10-2019 07-10-2019 08-10-2019 09-10-2019 10-10-2019
11-10-2019 12-10-2019 13-10-2019 14-10-2019 15-10-2019
16-10-2019 17-10-2019 18-10-2019 19-10-2019 20-10-2019
21-10-2019 22-10-2019 23-10-2019 24-10-2019 25-10-2019
26-10-2019 27-10-2019 28-10-2019 29-10-2019 30-10-2019
31-10-2019

 

आज की मुरली ऑनलाइन पढ़ें  :- TODAY MURLI

TODAY MURLI 30 SEPTEMBER 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 30 September 2019

Today Murli in Hindi:- Click Here

Read Murli 29 September 2019:- Click Here

30/09/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, to follow shrimat constantly is the elevated effort. When you follow shrimat, the lamp of the soul is ignited.
Question: Who can make full effort? What is the highest effort?
Answer: Only those whose attentionthat is, whose yoga of the intellect is connected to One can make full effort. The highest effort of all is to surrender yourself to the Father fully. The Father very much loves the children who surrender themselves to Him.
Question: What advice does the unlimited Father give you to celebrate the true Deepawali?
Answer: Children, imbibe unlimited purity. When you become pure in an unlimited way here, when you make the highest effort, you will then be able to go to the kingdom of Lakshmi and Narayan, that is, you will be able to celebrate the true Deepawali which is the coronation day.

Om shanti. What are you children doing whilst sitting here? Whilst walking and moving around and whilst sitting here, the sins of many births that you have on your heads are being absolved by your remaining on the pilgrimage of remembrance. The soul knows that the more the soul remembers the Father, the more the sins are cut away. The Father has explained to you very well: Although you are sitting here, only those who follow shrimat would like the advice that the Father gives. You receive advice from the unlimited Father to become pure in an unlimited way. You have come here to become pure in an unlimited way and you will become that with the pilgrimage of remembrance. Some are not able to have any remembrance at all. Some understand that they are cutting away their sins with the pilgrimage of remembrance, that is, they are benefitting themselves. People outside do not know these things. Only you have found the Father. You stay with the Father. You know that you have now become the children of God, whereas previously, you were devilish children. You now keep the company of the children of God. It is sung: Good company takes you across and bad company drowns you. You children repeatedly forget that you are Godly children and that you should therefore only follow God’s directions and not your own dictates. Dictates of the mind are said to be human dictates. Human dictates can only be devilish. The children who want to benefit themselves continue to remember the Father very well in order to become satopradhan. Those who are satopradhan are praised. You know that you truly do become the masters of the land of happiness, numberwise. The more you follow shrimat, the higher the status you claim, whereas the more you follow your own dictates, accordingly, your status will be destroyed. You continue to receive the Father’s directions for your own benefit. The Father has explained that this is also effort. To the extent that you remember the Father, so your sins are cut away. Without staying on the pilgrimage of remembrance, you won’t be able to become pure. Whilst walking and moving around, just have this one concern. You children have been receiving these teachings for so many years, and yet you understand that you are very far away. You are unable to remember the Father that much. It will take a lot of time to become satopradhan. So, if in the middle of that, you shed your body, your status will be low for cycle after cycle. You now belong to God and so you should make effort to claim your full inheritance from Him. Your intellects should remain in only one direction. You now receive shrimat. He is God, the Highest on High. If you don’t follow His directions, you will be deceived a great deal. Only you, yourself, and Shiv Baba know whether you follow them or not. It is Shiv Baba who inspires you to make effort. All bodily beings make effort. This one is also a bodily being and Shiv Baba is inspiring him to make effort. It is you children who have to make effort. The main thing is to make impure ones pure. In the world, there are many who are pure. Sannyasis too remain pure, but they only become pure for one birth. There are many who have been celibate from birth in this life but they cannot help the world with purity. Help can only be given when you become pure according to shrimat and also make the world pure. You are now receiving shrimat. For birth after birth, you have been following devilish dictates. You now know that the land of happiness is being established. The more effort we make according to shrimat, the higher the status we will claim. These are not the directions of Brahma; he is an effort-maker. Their efforts are definitely very high. This is how they become Lakshmi and Narayan. Therefore, you children have to follow His directions. You have to follow shrimat and not the dictates of your own minds. You have to ignite the light of your soul. Deepawali is now coming, but there is no Deepawali in the golden age; there is just the coronation there. Souls will have become satopradhan. The Deepmala that is celebrated now is false. They ignite lamps outside, but lamps would be ignited there in every home, that is, every soul there is satopradhan. The poured oil of knowledge lasts for 21 births. Then, they gradually diminish, until now when the lights of the whole world are extinguished. In this, too, it is Bharat in particular and the whole world in general – all are now sinful souls. It is the time of settlement for everyone. Everyone has to settle their karmic accounts. You children now have to make effort to claim the highest-on-high status. You will only claim that by following shrimat. In the kingdom of Ravan, Shiv Baba has been disobeyed a lot. If, even now, you don’t obey His orders, you will be deceived a great deal. You have called out to Him to come and make you pure. So, now, in order to benefit yourself, you have to follow Shiv Baba’s shrimat. Otherwise, there will be a great loss. You sweetest children also know that you cannot become completely pure without having remembrance of Shiv Baba. You have been here for so many years but, in spite of that, why are you unable to imbibe knowledge? Knowledge can only be imbibed in a golden vessel. New children become so serviceable. Look how much difference there is! Older children don’t stay on the pilgrimage of remembrance as much as the newer ones do. Many very good, beloved children of Shiv Baba come and do so much service. It is as though those souls have surrendered themselves to Shiv Baba. By surrendering themselves, they then also do so much service. They are so sweet and loving. They are helping the Father by staying on the pilgrimage of remembrance. The Father says: Remember Me and you will become pure. You called out to Me to come and purify you. Therefore, the Father says: Now continue to remember Me. You have to renounce all bodily relations. Even your friends and relatives should not be remembered – no one except the one Father. Only then will you be able to claim a high status. If you don’t have remembrance you won’t be able to claim a high status. BapDada can understand this. You children also understand. New ones who come realize that they are improving day by day. It is only by following shrimat that you are reformed. By making effort to conquer anger, you will gradually gain victory. The Father also explains: Continue to remove the defects. Anger is very bad: it burns you inside and it also burns others; it has to be removed. When children don’t follow the Father’s shrimat, their status is lowered, and a loss is incurred for birth after birth, cycle after cycle. You children know that these are physical studies whereas this is a spiritual study which the spiritual Father is teaching. Care has to be taken in every way. No vicious beings can come here to Madhuban. If, at times of illness, your friends and relatives, who indulge in vice come, that isn’t good either. We would not like that, because those friends and relatives would be remembered in the final moments. You would not then be able to claim a high status. The Father continues to inspire you to make effort. No one should be remembered. It should not be that, because you are ill, you expect your friends and relatives to come and visit you. No, it is not the system to invite them. It is only by following the systems that salvation is received. Otherwise, you cause yourself a loss unnecessarily. However, those with tamopradhan intellects do not understand this. God advises them and they still do not reform themselves! You have to move along here with great caution. This is the holiest of holy places. Impure ones cannot stay here. If you remember your friends and relatives, then, at the time of dying, they would definitely be remembered. By becoming body conscious, you only cause yourself a loss and this also becomes a cause of punishment. By not following shrimat, you cannot become worthy of doing servicefor there is great degradation. No matter how much you beat your heads, you cannot become worthy of doing service. If you are disobedient, you will become those with stone intellects. Instead of climbing up, you fall. The Father would say: You children should become obedient. Otherwise, your status will be destroyed. A physical father has four to five children but, in that too, he has love for those who are obedient. Those who are not obedient would only cause sorrow. You children have now found two very great fathers; you must not disobey them. If you are disobedient, you receive a very low status for birth after birth and cycle after cycle. Make such effort that only one Shiv Baba is remembered at the end. Baba says: I can know what effort each one of you is making. Some have very little remembrance. Others simply continue to remember their friends and relatives. They cannot remain that happy or claim a high status. For you, it is the day of the Satguru every day. Children are admitted into college on a Thursday, the day of Jupiter. That is physical knowledge, whereas this is spiritual knowledge. You know that Shiv Baba is our Father, Teacher and Satguru, and so you should follow His directions, for only then will you be able to claim a high status. Those who are effort-makers have so much happiness inside them, don’t even ask! If you have happiness, you make effort to make others happy. Look how much effort some daughters continue to make day and night because this knowledge is wonderful. BapDada has mercy because some children cause themselves so much loss by not understanding. They become body conscious and are very jealous inside. People in anger become as red as copper. Anger burns human beings and lust makes them ugly. They don’t burn as much through attachment or greed; they burn with anger. Many have the evil spirit of anger; they fight so much! By fighting, they only cause themselves a loss. They disobey both the Incorporeal and the corporeal. Baba understands that they are unworthy. If you make effort you will claim a high status. So, for your own benefit, you have to forget all your relationships. Do not remember anyone except the one Father. Whilst living at home and seeing your relatives, only remember Shiv Baba. You are now at the confluence age. Now remember your new home, the land of peace. This is an unlimited education. The Father gives you teachings and there is benefit for you children in these. Some children cause themselves harm unnecessarily with their unlawful behaviour. You are making effort to claim the sovereignty of the world, but Maya, the cat, cuts off your ears. You have taken birth and you say that you will claim that status, but Maya, the cat, doesn’t allow you to claim it and so your status is destroyed. Maya attacks you very forcefully. You come here to claim the kingdom, but Maya harasses you. The Father feels mercy and feels that it would be good if the poor children were to claim a high status, that they should not become those who defame Me. Those who defame the Satguru cannot claim a high status. Whose defamation is it? That of Shiv Baba. Let your behaviour not be such that the Father is defamed. There is no question of arrogance in this. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. For your own benefit forget all bodily relations. Do not have love for them. Only follow God’s directions and not your own. Protect yourself from bad company and stay in the company of God.
  2. Anger is very bad; it burns the self. Do not be disobedient under the influence of anger. Remain happy and make effort to make everyone else happy.
Blessing: May you be a self-transformer whose heart has realization and receive blessings from Dilaram, the Comforter of Hearts.
In order to transform yourself you need an honest heart to have realization of two things: 1) Realisation of your weaknesses. 2) Realization of the desires and feelings in the minds of the people who become instruments for some situation. For you to pass you must understand the reason for the paper of the situation and have realization of your elevated form. Understand that your own original stage is elevated and that the situation is just a paper.This realization will easily bring about transformation, for when you have realization with an honest heart, you will receive blessings from the Comforter of Hearts.
Slogan: An heir is one who is everready and says “Yes, my Lord, I am present” for every task.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 30 SEPTEMBER 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 September 2019

To Read Murli 29 September 2019:- Click Here
30-09-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – सदा श्रीमत पर चलना – यही श्रेष्ठ पुरुषार्थ है, श्रीमत पर चलने से आत्मा का दीपक जग जाता है”
प्रश्नः- पूरा-पूरा पुरुषार्थ कौन कर सकते हैं? ऊंच पुरुषार्थ क्या है?
उत्तर:- पूरा पुरुषार्थ वही कर सकते जिनका अटेन्शन वा बुद्धियोग एक में है। सबसे ऊंचा पुरुषार्थ है बाप के ऊपर पूरा-पूरा कुर्बान जाना। कुर्बान जाने वाले बच्चे बाप को बहुत प्रिय लगते हैं।
प्रश्नः- सच्ची-सच्ची दीपावली मनाने के लिए बेहद का बाप कौन-सी राय देते हैं?
उत्तर:- बच्चे, बेहद की पवित्रता को धारण करो। जब यहाँ बेहद पवित्र बनेंगे, ऐसा ऊंचा पुरुषार्थ करेंगे तब लक्ष्मी-नारायण के राज्य में जा सकेंगे अर्थात् सच्ची-सच्ची दीपावली वा कारोनेशन डे मना सकेंगे।

ओम् शान्ति। बच्चे अभी यहाँ बैठकर क्या कर रहे हैं? चलते फिरते अथवा यहाँ बैठे-बैठे जन्म-जन्मान्तर के जो पाप सिर पर हैं, उन पापों का याद की यात्रा से विनाश करते हैं। यह तो आत्मा जानती है, हम जितना बाप को याद करेंगे उतना पाप कटते जायेंगे। बाप ने तो अच्छी रीति समझाया है – भल यहाँ बैठे हो तो भी जो श्रीमत पर चलने वाले हैं, उनको तो बाप की राय अच्छी ही लगेगी। बेहद बाप की राय मिलती है, बेहद पवित्र बनना है। तुम यहाँ आये हो बेहद पवित्र बनने के लिए, सो बनेंगे ही याद की यात्रा से। कई तो बिल्कुल याद कर नहीं सकते, कई समझते हैं हम याद की यात्रा से अपने पाप काट रहे हैं, गोया अपना कल्याण कर रहे हैं। बाहर वाले तो इन बातों को जानते नहीं। तुमको ही बाप मिला है, तुम रहते ही हो बाप के पास। जानते हो अभी हम ईश्वरीय सन्तान बने हैं, आगे आसुरी सन्तान थे। अब हमारा संग ईश्वरीय सन्तानों से है। गायन भी है ना – संग तारे कुसंग डुबोये। बच्चों को घड़ी-घड़ी यह भूल जाता है कि हम ईश्वरीय सन्तान हैं तो हमको ईश्वरीय मत पर ही चलना चाहिए, न कि अपनी मनमत पर। मनमत मनुष्य मत को कहा जाता है। मनुष्य मत आसुरी ही होती है। जो बच्चे अपना कल्याण चाहते हैं वह बाप को अच्छी रीति याद करते रहते हैं, सतोप्रधान बनने के लिए। सतोप्रधान की महिमा भी होती है। बरोबर जानते हैं हम सुखधाम के मालिक बनते हैं नम्बरवार। जितना-जितना श्रीमत पर चलते हैं, उतना ऊंच पद पाते हैं, जितना अपनी मत पर चलते तो पद भ्रष्ट हो जायेगा। अपना कल्याण करने के लिए बाप के डायरेक्शन तो मिलते ही रहते हैं। बाप ने समझाया है यह भी पुरुषार्थ है, जो जितना याद करते हैं तो उनके भी पाप कटते हैं। याद की यात्रा बिगर तो पवित्र बन नहीं सकेंगे। उठते, बैठते, चलते यही ओना रखना है। तुम बच्चों को कितने वर्षों से शिक्षा मिली है तो भी समझते हैं हम बहुत दूर हैं। इतना बाप को याद नहीं कर सकते हैं। सतोप्रधान बनने में तो बहुत टाइम लग जायेगा। इस बीच में शरीर छूट जाए तो कल्प-कल्पान्तर के लिए कम पद हो जायेगा। ईश्वर का बने हैं तो उनसे पूरा वर्सा लेने का पुरुषार्थ करना चाहिए। बुद्धि एक तरफ ही रहनी चाहिए। तुमको अब श्रीमत मिलती है। वह है ऊंच ते ऊंच भगवान। उनकी मत पर नहीं चलेंगे तो बहुत धोखा खायेंगे। चलते हो वा नहीं, वह तो तुम जानो और शिवबाबा जाने। तुमको पुरुषार्थ कराने वाला वह शिवबाबा है। देहधारी सब पुरुषार्थ करते हैं। यह भी देहधारी है, इनको शिवबाबा पुरुषार्थ कराते हैं। बच्चों को ही पुरुषार्थ करना है। मूल बात है पतितों को पावन बनाने की। वैसे दुनिया में पावन तो बहुत होते हैं। सन्यासी भी पवित्र रहते हैं। वह तो एक जन्म के लिए पावन बनते हैं। ऐसे बहुत हैं जो इस जन्म में बाल ब्रह्मचारी रहते हैं। वह कोई दुनिया को मदद नहीं दे सकते हैं पवित्रता की। मदद तब हो जबकि श्रीमत पर पावन बनें और दुनिया को पावन बनायें।

अभी तुमको श्रीमत मिल रही है। जन्म-जन्मान्तर तो तुम आसुरी मत पर चले हो। अब तुम जानते हो सुखधाम की स्थापना हो रही है। जितना हम श्रीमत पर पुरुषार्थ करेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। यह ब्रह्मा की मत नहीं है। यह तो पुरुषार्थी है। इनका पुरुषार्थ जरूर इतना ऊंच है तब तो लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। तो बच्चों को यह फालो करना है। श्रीमत पर चलना पड़े, मनमत पर नहीं। अपने आत्मा की ज्योति को जगाना है। अभी दीपावली आती है, सतयुग में दीपावली होती नहीं। सिर्फ कारोनेशन है। बाकी आत्मायें तो सतोप्रधान बन जाती हैं। यह जो दीपमाला मनाते हैं, वह है झूठी। बाहर के दीपक जगाते हैं, वहाँ तो घर-घर में दीप जगा हुआ है अर्थात् सबकी आत्मा सतोप्रधान रहती है। 21 जन्मों के लिए ज्ञान घृत पड़ जाता है। फिर आहिस्ते-आहिस्ते कम होते-होते इस समय ज्योति उझाई है – सारी दुनिया की। इसमें भी खास भारतवासी, आम दुनिया। अभी पाप आत्मायें तो सब हैं, सबकी कयामत का समय है, सबको हिसाब-किताब चुक्तू करना है। अभी तुम बच्चों को पुरुषार्थ करना है ऊंच ते ऊंच पद पाने का, श्रीमत पर चलने से ही पायेंगे। रावण राज्य में तो शिवबाबा की बहुत अवज्ञा की है। अब भी उनके फ़रमान पर नहीं चलेंगे तो बहुत धोखा खायेंगे। उनको ही बुलाया है कि आकर हमको पावन बनाओ। तो अब अपना कल्याण करने के लिए शिवबाबा की श्रीमत पर चलना पड़े। नहीं तो बहुत अकल्याण हो जायेगा। मीठे-मीठे बच्चे यह भी जानते हो – शिवबाबा की याद बिगर हम सम्पूर्ण पावन बन नहीं सकते। तुमको इतने वर्ष हुए हैं फिर भी ज्ञान की धारणा क्यों नहीं होती है। सोने के बर्तन में ही धारणा होगी। नये-नये बच्चे कितने सर्विसएबुल हो जाते हैं। फर्क देखो कितना है। पुराने-पुराने बच्चे इतना याद की यात्रा में नहीं रहते, जितना नये रहते हैं। कई अच्छे शिवबाबा के लाडले बच्चे आते हैं, कितनी सर्विस करते हैं। जैसेकि शिवबाबा के पिछाड़ी आत्मा को कुर्बान कर दिया है। कुर्बान करने से फिर सर्विस भी कितनी करते हैं। कितने प्रिय मीठे लगते हैं। बाप को मदद करते ही हैं याद की यात्रा में रहने से। बाप कहते हैं मुझे याद करो तो तुम पावन बनेंगे। बुलाया ही है कि मुझे आकर पावन बनाओ तो अब बाप कहते हैं मुझे याद करते रहो। देह के सम्बन्ध सब त्याग करना पड़े। मित्र-सम्बन्धियों आदि की भी याद न रहे, सिवाए एक बाप के, तब ही ऊंच पद पा सकेंगे। याद नहीं करेंगे तो ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। यह बापदादा भी समझ सकते हैं। तुम बच्चे भी जानते हो। नये-नये आते हैं, समझते हैं दिन-प्रतिदिन सुधरते जाते हैं। श्रीमत पर चलने से ही सुधरते हैं। क्रोध पर भी पुरुषार्थ करते-करते जीत पाते हैं। तो बाप भी समझाते हैं, खराबियों को निकालते रहो। क्रोध भी बड़ा खराब है। अपने अन्दर को भी जलाते हैं, दूसरे को भी जलाते हैं। वह भी निकलना चाहिए। बच्चे बाप की श्रीमत पर नहीं चलते हैं तो पद कम हो जाता है, जन्म-जन्मान्तर, कल्प-कल्पान्तर का घाटा पड़ जाता है।

तुम बच्चे जानते हो कि वह है जिस्मानी पढ़ाई, यह है रूहानी पढ़ाई जो रूहानी बाप पढ़ाते हैं। हर प्रकार की सम्भाल भी होती रहती है। कोई विकारी यहाँ अन्दर (मधुबन में) आ न सके। बीमारी आदि में भी विकारी मित्र-सम्बन्धी आयें, यह तो अच्छा नहीं। पसन्द भी हम न करें। नहीं तो अन्तकाल वह मित्र-सम्बन्धी ही याद पड़ेंगे। फिर वह ऊंच पद पा नहीं सकेंगे। बाप तो पुरुषार्थ कराते हैं, कोई की भी याद न आये। ऐसे नहीं, हम बीमार हैं इसलिए मित्र-सम्बन्धी आदि आयें देखने के लिए। नहीं, उन्हों को बुलाना, कायदा नहीं। कायदेसिर चलने से ही सद्गति होती है। नहीं तो मुफ्त अपने को नुकसान पहुँचाते हैं। परन्तु तमोप्रधान बुद्धि यह समझते नहीं हैं। ईश्वर राय देते हैं तो भी सुधरते नहीं। बड़ा खबरदारी से चलना चाहिए। यह है होलीएस्ट ऑफ होली स्थान। पतित ठहर न सकें। मित्र-सम्बन्धी आदि याद होंगे तो मरने समय जरूर वह याद आयेंगे। देह-अभिमान में आने से अपने को ही नुकसान पहुँचाते हैं। सज़ा के निमित्त बन पड़ते हैं। श्रीमत पर न चलने से बड़ी दुर्गति हो जाती है। सर्विस लायक बन न सके। कितना भी माथा मारे परन्तु सर्विस लायक हो नहीं सकते। अवज्ञा की तो पत्थरबुद्धि बन जाते हैं। ऊपर चढ़ने बदले नीचे गिर जाते हैं। बाप तो कहेंगे बच्चों को आज्ञाकारी बनना चाहिए। नहीं तो पद भ्रष्ट हो पड़ेगा। लौकिक बाप के पास भी 4-5 बच्चे होते हैं, परन्तु उनमें जो आज्ञाकारी होते हैं वही बच्चे प्रिय लगते हैं। जो आज्ञाकारी नहीं वह तो दु:ख ही देंगे। अभी तुम बच्चों को दोनों बाप बहुत बड़े मिले हैं, उनकी अवज्ञा नहीं करनी है। अवज्ञा करेंगे तो जन्म-जन्मान्तर, कल्प-कल्पान्तर बहुत कम पद पायेंगे। पुरुषार्थ ऐसा करना है जो अन्त में एक ही शिवबाबा याद आये। बाप कहते हैं मैं जान सकता हूँ – हर एक क्या पुरुषार्थ करते हैं। कोई तो बहुत थोड़ा याद करते हैं, बाकी तो अपने मित्र-सम्बन्धियों को ही याद करते रहते हैं। वह इतना खुशी में नहीं रह सकते। ऊंच पद पा न सकें।

तुम्हारा तो रोज़ सतगुरूवार है। बृहस्पति के दिन कॉलेज में बैठते हैं। वह है जिस्मानी विद्या। यह तो है रूहानी विद्या। तुम जानते हो शिवबाबा हमारा बाप, टीचर, सतगुरू है। तो उनके डायरेक्शन पर चलना चाहिए, तब ही ऊंच पद पा सकेंगे। जो पुरुषार्थी हैं, उन्हों के अन्दर बहुत खुशी रहती है। बात मत पूछो। खुशी है तो औरों को भी खुश करने का पुरुषार्थ करते हैं। बच्चियां देखो कितनी मेहनत करती रहती हैं – दिन-रात क्योंकि यह वन्डरफुल ज्ञान है ना। बापदादा को तरस पड़ता है कि कई बच्चे बेसमझी से कितना घाटा पाते हैं। देह-अभिमान में आकर अन्दर में बड़ा जलते हैं। क्रोध में मनुष्य ताम्बे जैसा लाल हो जाते हैं। क्रोध मनुष्य को जलाता है, काम काला बना देता है। मोह अथवा लोभ में इतना जलते नहीं हैं। क्रोध में जलते हैं। क्रोध का भूत बहुतों में है। कितना लड़ते हैं। लड़ने से अपना ही नुकसान कर लेते हैं। निराकार साकार दोनों की अवज्ञा करते हैं। बाप समझते हैं यह तो कपूत हैं। मेहनत करेंगे तो ऊंच पद पायेंगे। तो अपने कल्याण के लिए सब सम्बन्ध भुला देने हैं। सिवाए एक बाप के किसको भी याद नहीं करना है। घर में रहते सम्बन्धियों को देखते हुए शिवबाबा को याद करना है। तुम हो संगमयुग पर, अब अपने नये घर को, शान्तिधाम को याद करो।

यह तो बेहद की पढ़ाई है ना। बाप शिक्षा देते हैं इसमें बच्चों का ही फ़ायदा है। कई बच्चे अपनी बेढंगी चलन से मुफ्त अपने को नुकसान पहुँचाते हैं। पुरुषार्थ करते हैं विश्व की बादशाही लेने के लिए परन्तु माया बिल्ली कान काट लेती है। जन्म लिया है, कहते हैं हम यह पद पायेंगे परन्तु माया बिल्ली लेने नहीं देती, तो पद भ्रष्ट हो जाता है। माया बड़ा जोर से वार कर देती है। तुम यहाँ आते हो राज्य लेने के लिए। परन्तु माया हैरान करती है। बाप को तरस पड़ता है बिचारे ऊंच पद पावें तो अच्छा है। मेरी निंदा कराने वाला न बनें। सतगुरू का निंदक ठौर न पाये, किसकी निंदा? शिवबाबा की। ऐसी चलन नहीं चलनी चाहिए जो बाप की निंदा हो, इसमें अहंकार की बात नहीं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) अपने कल्याण के लिए देह के सब सम्बन्ध भुला देने हैं, उनसे प्रीत नहीं रखनी है। ईश्वर की ही मत पर चलना है, अपनी मत पर नहीं। कुसंग से बचना है, ईश्वरीय संग में रहना है।

2) क्रोध बहुत खराब है, यह स्वयं को जलाता है, क्रोध के वश होकर अवज्ञा नहीं करनी है। खुश रहना है और सबको खुश करने का पुरुषार्थ करना है।

वरदान:- दिल की महसूसता से दिलाराम की आशीर्वाद प्राप्त करने वाले स्व परिवर्तक भव
स्व को परिवर्तन करने के लिए दो बातों की महसूसता सच्चे दिल से चाहिए 1- अपनी कमजोरी की महसूसता 2- जो परिस्थिति वा व्यक्ति निमित्त बनते हैं उनकी इच्छा और उनके मन की भावना की महसूसता। परिस्थिति के पेपर के कारण को जान स्वयं को पास होने के श्रेष्ठ स्वरूप की महसूसता हो कि स्वस्थिति श्रेष्ठ है, परिस्थिति पेपर है – यह महसूसता सहज परिवर्तन करा लेगी और सच्चे दिल से महसूस किया तो दिलाराम की आशीर्वाद प्राप्त होगी।
स्लोगन:- वारिस वह है जो एवररेडी बन हर कार्य में जी हजूर हाजिर कहता है।
Font Resize