Month: June 2019

BRAHMAKUMARIS Aaj Ka Purusharth 30 JUNE 2019 – आज का पुरूषार्थ

Om Shanti
30.06.2019

★【 आज का पुरूषार्थ】★

बाबा कहते हैं … बच्चे, ना ही मैं आपको धनवान बनाने के लिए आया हूँ … और ना ही आप सबकी daily की problem solve करने के लिए आया हूँ…!

अर्थात मैं कोई भी तरह का क्षण-भंगूर सुख नहीं देता…, जिसके पीछे आप द्वापर से भागते आये हो…!

और वैसे भी यह सब तो भक्ति मार्ग में भी प्राप्त हो जाता है अर्थात भगवान की प्रार्थना-याचना करने से मिल जाता है…!

बच्चे,
• मैं तो आप बच्चों को आपकी स्व-स्थिति की seat पर set कराने के लिए आया हूँ … 
• अर्थात आपको आपका ही मालिक बनाने आया हूँ … 
• अर्थात विस्मृत आत्मा को स्मृति दिलाने आया हूँ … 
• अर्थात आपके पुराने, विकारी संस्कारों का संस्कार करा, आपको शुद्ध और पावन बना, स्व-स्थिति के आसन पर set कर देता हूँ…, जिससे आपकी सम्पन्नता को, जो आप में ही है, वो बाहर आ जाती है…, और आप स्थूल में सम्पन्न बन जाते हो 
• अर्थात सम्पूर्ण देवता बन जाते हो 
• अर्थात सभी को सूक्ष्म और स्थूल सम्पन्नता देने वाले 
• अर्थात पूजनीय आत्मा, जिनका आप सब गायन-पूजन करते आये हो…।

जैसे, एक राजा की कहानी बनाई है कि जिसमें भिखारी राजा से भीख माँगने आता है और राजा को भगवान से माँगता हुआ देखता है…, अर्थात भगवान से माँगने वाले को देवता नहीं कहा जा सकता…।

अच्छा। ओम शांति।

____________________________________

**IMPORTANT POINT*

*भगवान से माँगने वाले को देवता नहीं कहा जा सकता…।*

【 Peace Of Mind TV 】
Dish TV # 1087 | Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 |
Jio TV |

TODAY MURLI 1 JULY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 1 July 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 June 2019:- Click Here

01/07/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, body consciousness means a devilish character. Change that and imbibe a divine character and you will be liberated from the jail of Ravan.
Question: How does each soul experience punishment for his sinful acts and what method should you use to be liberated from that?
Answer: Each one experiences punishment in the jail of a womb for his sins and, secondly, he also receives many types of sorrow in the jail of Ravan. Baba has come to liberate you children from these jails. In order to be liberated from them you have to become civilized.

Om shanti. The Father sits here and explains according to the dramaplan. The Father alone comes and liberates you from the jail of Ravan because all are criminal, sinful souls. Because all human souls of the whole world are criminal, they are in the jail of Ravan and when they shed their bodies, each one goes into the jail of a womb. The Father comes and liberates you from both jails. Then, for half the cycle, you will not go into either the jail of Ravan or the jail of a womb. You know that the Father is gradually liberatingyou from the jail of Ravan and the jail of a womb according to the effort you make. The Father tells you that, in the kingdom of Ravan, all of you are criminal. Then, in the kingdom of Rama, all are civilized. There is no influence of any evil spirits. It is when there is arrogance of the body that the other evil spirits also come. You children now have to make effort to become soul conscious. Only when you become like them (Lakshmi and Narayan), will you be called deities. You are now called Brahmins. In order to liberate you from the jail of Ravan, the Father comes and teaches you and also reforms everyone’s character which has become spoilt. For half the cycle your character has been spoilt and it is now completely spoilt. At this time, everyone’s character is tamopradhan. There is truly the difference of day and night between a divine character and a devilish character. The Father explains: You now have to make effort and make your character divine for only then will you be liberated from having a devilish character. Body consciousness is number one in the devilish character. The character of those who are soul conscious never becomes spoilt. Everything depends on your character. How does the character of the deities become spoilt? Their character becomes spoilt when they go onto the path of sin, that is, when they become vicious. They have shown such dirty images of the path of sin in the Jagannath Temple. That is a very old temple and the dress etc. which they are shown wearing is that of the deities. They show how the deities go onto the path of sin. That is the first criminality. They climb on to the pyre of lust and then, whilst gradually changing, they become completely ugly. At first, when they are in the golden age, they are absolutely beautiful. Then there are two degrees less. The silver age cannot be called heaven; it is semi-heaven. The Father has explained that it is only when Ravan comes that rust begins to accumulate on you. You become completely criminal by the end. You would be said to be 100% criminal at this time. You were 100% viceless and have become 100% vicious. The Father now says: Continue to reform yourselves. This jail of Ravan is very big. Everyone would be said to be criminal because this is the kingdom of Ravan. They don’t know anything about the kingdom of Rama or the kingdom of Ravan. You are now making effort to go to the kingdom of Rama. No one has become complete as yet: some are in the first, some in the second and others in the third. The Father is now teaching you and inspiring you to imbibe divine virtues. Everyone has body consciousness. The more you remain engaged in service, the more your body consciousness will be reduced. It is only by your doing service that body consciousness will be reduced. Those who are soul conscious will do a lot of service. Baba is soul conscious and does such good service. He liberates everyone from the criminal jail of Ravan and enables everyone to attain salvation. Neither jail will exist there. Here, there is the double jail. In the golden age, there are no courts, no sinful souls and no jail of Ravan. The jail of Ravan is unlimited. All are tied up with the ropes of the five vices; there is limitless sorrow. Day by day, sorrow continues to increase. Satyug is called the golden age and Tretayug is called the silver age. The happiness of the golden age cannot exist in the silver age because souls will have decreased by two degrees. When the degrees of souls decrease, the bodies also become like that. You should understand that you became body conscious in the kingdom of Ravan. The Father has now come to liberate you from the jail of Ravan. It does take time for the body consciousness of half the cycle to be removed. You have to make a lot of effort. Those who have already shed their bodies can come here again and take knowledge after growing older. The later you shed your body, the less possible it is for you to make effort: when someone dies, he can only make effort again when his physical organs become big. He can only do something when he becomes sensible. Those who go later will not be able to study anything. They will only study as much as they have studied already. This is why you should make effort before you die. They will definitely try as much as possible to come here. Many will come in this condition. The tree will continue to grow. The explanation is very easy. There is a very good chance to give the Father’s introduction in Bombay: That One is the Father of all of us. You definitely need the Father’s inheritance of heaven. It is so easy! Your hearts should bubble inside with happiness as to who it is teaching you. This is our aim and objective. Previously, we were in salvation and we then became degraded and we now have to go into salvation from degradation. Shiv Baba says: Constantly remember Me alone and your sins of many births will be cut away. You children know that when it is the kingdom of Ravan in the copper age, the five vices of Ravan become omnipresent. How can the Father be omnipresent where the vices are omnipresent? All souls are sinful souls. The Father is personally in front of you and this is why He says: I never said that, but they have understood it wrongly. By their understanding it wrongly, by falling into vice and by being insulting, this has become the condition of Bharat. Christians too know that, 5000 years ago, Bharat was heaven and all were satopradhan. The people of Bharat speak of hundreds of thousands of years because their intellects have become tamopradhan. They (Christians) neither become as elevated nor as degraded. They understand that heaven truly did exist. The Father says: They are right when they say that I came to liberate you children from the jail of Ravan 5000 years ago. I have come to liberate you again. For half the cycle there is the kingdom of Rama and for half the cycle there is the kingdom of Ravan. Whenever you children have a chance, you should explain. Baba also explains to you children: Children, explain in this way. Why do you experience limitless sorrow? At first, when it was the kingdom of Lakshmi and Narayan, there was limitless happiness. They were full of all virtues. This knowledge is for becoming Narayan from an ordinary man. This is a study through which you make your character divine. At this time, everyone’s character in the kingdom of Ravan has become spoilt. It is only the one Rama who can reform everyone’s character. There are so many religions at this time. The number of human beings continues to grow so much. If it continues to grow in the same way, how will there be enough food for everyone to eat? Such things do not exist in the golden age. There is no question of sorrow there. This iron age is the land of sorrow where all are vicious. That is the land of happiness. All are completely viceless. You should repeatedly tell them this so that they can understand something. The Father says: I am the Purifier. By remembering Me, your sins of many births will be cut away. How would the Father say this? He would definitely speak by adopting a body. Only the one Father is the Purifier and the Bestower of Salvation for all. He would definitely have entered someone’s chariot. The Father says: I enter the chariot of the one who doesn’t know his own births. The Father explains: This is a play of 84 births. Those who came in the beginning will come again. They are the ones who will take many births and then there will be those with fewer births. The deities came first of all. Baba teaches you children to give lectures: You should explain in this way. If you stay in remembrance very well, if there isn’t body consciousness, you will then give good lectures. Shiv Baba is soul conscious. He continues to say: Children, may you be soul conscious! Let there be no vices! Let there not be any devilishness within! You must not cause anyone sorrow! You must not defame anyone! You children must never trust rumours you hear here and there. Ask the Father: That one is saying this; is it true? Baba will tell you. Otherwise, there are many who don’t take long to tell lies: So-and-so said this about you. They will say this and finish that one off. Baba knows that these things happen a lot. They tell wrong stories and then spoil the hearts of others. Therefore, you must never listen to false stories and burn inside. Ask: Did So-and-so say this about me? There should be cleanliness within. Some children develop enmity based on the rumours they have heard. You have found the Father and so you should ask Him. Many don’t have any faith in Brahma Baba either. They even forget Shiv Baba. The Father has come to make everyone elevated. He uplifts everyone with a lot of love. You should take God’s directions. If you don’t have faith, you won’t ask and you won’t receive a response. You should imbibe what the Father explains to you. You children have become instruments to establish peace in the world. No one’s directions except for those of the one Father can be elevated. The most elevated directions are only from God from whom you also receive such a high status. The Father says: Benefit yourself and claim a high status. Become maharathis. If you don’t study, what status would you receive? This is a matter of every cycle. The maids and servants in the golden age are also numberwise. The Father has come to make you elevated, but if you don’t study, what status would you claim? There is a high status and a low status amongst the subjects too. This has to be understood with the intellect. People don’t know where they are going, whether they are becoming elevated or degraded. The Father comes and explains to you children: Previously, you were in the golden and silver ages and you are now in the iron age. At this time, human beings eat human beings. Only when people understand all of these things can they then understand what knowledge is. Some children listen with one ear and let it out through the other. Good children at good centres have criminal eyes. They don’t care about benefit, loss, honour. The main thing is the criminal eye. The Father explains: Lust is the greatest enemy. You have to beat your head so much in order to conquer it. The main thing is purity. There is so much fighting because of that. The Father says: Lust is the greatest enemy. Only when you conquer it will you become conquerors of the world. The deities are completely viceless. As you progress further, you will understand everything. Establishment will have taken place. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Never allow your stage to be spoilt by believing the rumours you hear. Have cleanliness within. Don’t burn inside on hearing lies. Take God’s directions.
  2. Make full effort to become soul conscious. Do not defame anyone. Completely finish the criminal eye by paying attention to benefit, loss and honour. Listen with one ear to whatever the Father tells you, but don’t let it out of the other!
Blessing: May you gain victory over every adverse situation on the basis of faith and intoxication and become an embodiment of success.
With yoga, now attain such success that even a lack of attainment gives you the experience of attainment. Faith and intoxication make you victorious over every adverse situation. As you progress further, such papers will come that you will have to eat dry chapattis. However, with your faith, intoxication and power of success in yoga, those dry chapattis will become soft; you won’t be distressed. You just keep your honour of being an embodiment of success and no one will be able to distress you. Check this: If you have any facilities, use them comfortably, but make sure they do not deceive you at any time.
Slogan: Be an instrument and play your part accurately and you will continue to receive the help of everyone’s co-operation.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 1 JULY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 July 2019

To Read Murli 30 June 2019 :- Click Here
01-07-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – देह-अभिमान आसुरी कैरेक्टर है, उसे बदल दैवी कैरेक्टर्स धारण करो तो रावण की जेल से छूट जायेंगेˮ
प्रश्नः- हर एक आत्मा अपने पाप कर्मों की सज़ा कैसे भोगती है, उससे बचने का साधन क्या है?
उत्तर:- हर एक अपने पापों की सज़ा एक तो गर्भ जेल में भोगते हैं, दूसरा रावण की जेल में अनेक प्रकार के दु:ख उठाते हैं। बाबा आया है तुम बच्चों को इन जेलों से छुड़ाने। इनसे बचने के लिए सिविलाइज्ड बनो।

ओम् शान्ति। ड्रामा के प्लैन अनुसार बाप बैठ समझाते हैं। बाप ही आकर रावण की जेल से छुड़ाते हैं क्योंकि सब क्रिमिनल, पाप आत्मायें हैं। सारी दुनिया के मनुष्य मात्र क्रिमिनल होने के कारण रावण की जेल में हैं। फिर जब शरीर छोड़ते हैं तो भी गर्भ जेल में जाते हैं। बाप आकर दोनों जेल से छुड़ाते हैं फिर तुम आधाकल्प रावण की जेल में भी नहीं और गर्भ जेल में भी नहीं जायेंगे। तुम जानते हो बाप धीरे-धीरे पुरुषार्थ अनुसार हमें रावण की जेल से और गर्भ जेल से छुड़ाते रहते हैं। बाप बताते हैं तुम सब क्रिमिनल हो रावण राज्य में। फिर राम राज्य में सब सिविलाइज्ड होते हैं। कोई भी भूत की प्रवेशता नहीं होती है। देह का अहंकार आने से ही फिर और भूतों की प्रवेशता होती है। अब तुम बच्चों को पुरुषार्थ कर देही-अभिमानी बनना है। जब ऐसे (लक्ष्मी-नारायण) बन जायेंगे तब ही देवता कहलायेंगे। अभी तो तुम ब्राह्मण कहलाते हो। रावण की जेल से छुड़ाने लिए बाप आकर पढ़ाते भी हैं और जो सबके कैरेक्टर्स बिगड़े हुए हैं वह सुधारते भी हैं। आधाकल्प से कैरेक्टर्स बिगड़ते-बिगड़ते बहुत बिगड़ गये हैं। इस समय हैं तमोप्रधान कैरेक्टर्स। दैवी और आसुरी कैरेक्टर्स में बरोबर रात-दिन का फर्क है। बाप समझाते हैं अब पुरुषार्थ कर अपना दैवी कैरेक्टर्स बनाना है, तब ही आसुरी कैरेक्टर्स से छूटते जायेंगे। आसुरी कैरेक्टर्स में देह-अभिमान है नम्बरवन। देही-अभिमानी के कैरेक्टर्स कभी बिगड़ते नहीं हैं। सारा मदार कैरेक्टर्स पर है। देवताओं का कैरेक्टर कैसे बिगड़ता है। जब वे वाम मार्ग में जाते हैं अर्थात् विकारी बनते हैं तब कैरेक्टर्स बिगड़ते हैं। जगन्नाथ के मन्दिर में ऐसे चित्र दिखाये हैं वाम मार्ग के। यह तो बहुत वर्षों का पुराना मन्दिर है, ड्रेस आदि देवताओं की ही है। दिखाते हैं देवता वाम मार्ग में कैसे जाते हैं। पहली-पहली क्रिमिनलिटी है ही यह। काम चिता पर चढ़ते हैं, फिर रंग बदलते-बदलते बिल्कुल काले हो जाते हैं। पहले-पहले गोल्डन एज़ में हैं सम्पूर्ण गोरे, फिर दो कला कम हो जाती हैं। त्रेता को स्वर्ग नहीं कहेंगे, वह है सेमी स्वर्ग। बाप ने समझाया है रावण के आने से ही तुम्हारे ऊपर कट चढ़ना शुरू हुई है। पूरे क्रिमिनल अन्त में बनते हो। अभी 100 परसेन्ट क्रिमिनल कहेंगे। 100 परसेन्ट वाइसलेस थे फिर 100 परसेन्ट विशश बने। अब बाप कहते हैं सुधरते जाओ, यह रावण का जेल बहुत बड़ा है। सबको क्रिमिनल ही कहेंगे क्योंकि रावण के राज्य में हैं ना। राम राज्य और रावण राज्य का तो उनको पता ही नहीं है। अभी तुम पुरुषार्थ कर रहे हो रामराज्य में जाने का। सम्पूर्ण तो कोई बना नहीं है। कोई फर्स्ट, कोई सेकण्ड, कोई थर्ड में हैं। अब बाप पढ़ाते हैं, दैवीगुण धारण कराते हैं। देह-अभिमान तो सबमें है। जितना-जितना तुम सर्विस में लगे रहेंगे उतना देह-अभिमान कम होता जायेगा। सर्विस करने से ही देह-अभिमान कम होगा। देही-अभिमानी बड़ी-बड़ी सर्विस करेंगे। बाबा देही-अभिमानी है तो कितनी अच्छी सर्विस करते हैं। सभी को क्रिमिनल रावण की जेल से छुड़ाए सद्गति प्राप्त करा देते हैं, वहाँ फिर दोनों जेल नहीं होगी। यहाँ डबल जेल हैं, सतयुग में न कोर्ट है, न पाप आत्मायें हैं, न तो रावण की जेल ही है। रावण की है बेहद की जेल। सभी 5 विकारों की रस्सियों में बंधे हुए हैं। अपरमअपार दु:ख हैं। दिन-प्रतिदिन दु:ख वृद्धि को पाता रहता है।

सतयुग को कहा जाता है गोल्डन एज, त्रेता को सिलवर एज। सतयुग वाला सुख त्रेता में नहीं हो सकता क्योंकि आत्मा की दो कला कम हो जाती हैं। आत्मा की कला कम होने से शरीर भी ऐसे हो जाते हैं, तो यह समझना चाहिए कि बरोबर हम रावण के राज्य में देह-अभिमानी बन पड़े हैं। अब बाप आया है रावण की जेल से छुड़ाने के लिए। आधाकल्प का देह-अभिमान निकलने में देरी तो लगती है। बहुत मेहनत करनी पड़ती है। जल्दी में जो शरीर छोड़ गये वह फिर भी बड़े होकर आए कुछ ज्ञान उठा सकते हैं। जितना देरी होती जाती है तो फिर पुरुषार्थ तो कर न सकें। कोई मरे फिर आकर पुरुषार्थ करे सो तो जब आरगन्स बड़े हों, समझदार हों तब कुछ कर भी सकें। देरी से जाने वाले तो कुछ सीख नहीं सकेंगे। जितना सीखे उतना सीखे इसलिए मरने से पहले पुरुषार्थ करना चाहिए, जितना हो सके इस तरफ आने की कोशिश जरूर करेंगे। इस हालत में बहुत आयेंगे। झाड़ वृद्धि को पायेगा। समझानी तो बहुत सहज है। बाम्बे में बाप का परिचय देने के लिए चांस बहुत अच्छा है – यह हम सबका बाप है, बाप से वर्सा तो जरूर स्वर्ग का ही चाहिए। कितना सहज है। दिल अन्दर गद्गद् होना चाहिए, यह हमको पढ़ाने वाला है। यह हमारी एम ऑबजेक्ट है। हम पहले सद्गति में थे फिर दुर्गति में आये अब फिर दुर्गति से सद्गति में जाना है। शिवबाबा कहते हैं मामेकम् याद करो तो तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के पाप कट जायेंगे।

तुम बच्चे जानते हो – जब द्वापर में रावण राज्य होता है तो 5 विकार रूपी रावण सर्वव्यापी हो जाता है। जहाँ विकार सर्वव्यापी है वहाँ बाप सर्वव्यापी कैसे हो सकता है। सभी मनुष्य पाप आत्मायें हैं ना। बाप सम्मुख है तब तो ऐसे कहते हैं कि मैंने कहा ही नहीं है, उल्टा समझ गये हैं। उल्टा समझते, विकारों में गिरते-गिरते, गालियां देते-देते भारत का यह हाल हुआ है। क्रिश्चियन लोग भी जानते हैं कि 5 हज़ार वर्ष पहले भारत स्वर्ग था, सभी सतोप्रधान थे। भारतवासी तो लाखों वर्ष कह देते हैं क्योंकि तमोप्रधान बुद्धि बन पड़े है। वह फिर न इतना ऊंच बने, न इतना नींच बने हैं। वह तो समझते हैं बरोबर स्वर्ग था। बाप कहते हैं यह ठीक कहते हैं – 5 हज़ार वर्ष पहले भी मैं तुम बच्चों को रावण की जेल से छुड़ाने आया था, अब फिर छुड़ाने आया हूँ। आधाकल्प है राम राज्य, आधाकल्प है रावण राज्य। बच्चों को चांस मिलता है तो समझाना चाहिए।

बाबा भी तुम बच्चों को समझाते हैं – बच्चे, ऐसे-ऐसे समझाओ। इतने अपरमअपार दु:ख क्यों हुए हैं? पहले तो अपरमअपार सुख थे जब इन लक्ष्मी-नारायण का राज्य था। यह सर्वगुण सम्पन्न थे, अब यह नॉलेज है ही नर से नारायण बनने की। पढ़ाई है, इनसे दैवी कैरेक्टर्स बनते हैं। इस समय रावण के राज्य में सभी के कैरेक्टर्स बिगड़े हुए हैं। सबके कैरेक्टर्स सुधारने वाला तो एक ही राम है। इस समय कितने धर्म हैं, मनुष्यों की कितनी वृद्धि होती रहती है, ऐसे ही वृद्धि होती रहेगी तो फिर खाना भी कहाँ से मिलेगा! सतयुग में तो ऐसी बातें होती नहीं हैं। वहाँ दु:ख की कोई बात ही नहीं। यह कलियुग है दु:खधाम, सब विकारी हैं। वह है सुखधाम, सभी सम्पूर्ण निर्विकारी हैं। घड़ी-घड़ी उन्हों को यह बतलाना चाहिए तो कुछ समझ जाएं। बाप कहते हैं मैं पतित-पावन हूँ, मुझे याद करने से तुम्हारे जन्म-जन्मान्तर के पाप कट जायेंगे। अब बाप कैसे कहेंगे! जरूर शरीर धारण कर बोलेंगे ना। पतित-पावन सर्व का सद्गति दाता एक बाप है, जरूर वह किसी रथ में आया होगा। बाप कहते हैं मैं इस रथ में आता हूँ, जो अपने जन्मों को नहीं जानते हैं। बाप समझाते हैं यह 84 जन्मों का खेल है, जो पहले-पहले आये होंगे वही आयेंगे, उनके ही बहुत जन्म होंगे फिर कम होते जायेंगे। सबसे पहले देवताये आये। बाबा बच्चों को भाषण करना सिखलाते हैं – ऐसे-ऐसे समझाना चाहिए। अच्छी रीति याद में रहेंगे, देह-अभिमान नहीं होगा तो भाषण अच्छा करेंगे। शिवबाबा देही-अभिमानी है ना। कहते रहते हैं – बच्चे, देही-अभिमानी भव। कोई विकार न रहे, अन्दर में कोई शैतानी न रहे। तुम्हें किसको भी दु:ख नहीं देना है, किसकी निंदा नहीं करनी है। तुम बच्चों को कभी भी सुनी-सुनाई बातों पर विश्वास नहीं करना चाहिए। बाप से पूछो – यह ऐसे कहते हैं, क्या सत्य है? बाबा बता देंगे। नहीं तो बहुत हैं जो झूठी बातें बनाने में देरी नहीं करते हैं – फलाने ने तुम्हारे लिए ऐसे-ऐसे कहा, सुनाकर उनको ही खाक कर देंगे। बाबा जानते हैं, ऐसे बहुत होता है। उल्टी-सुल्टी बातें सुनाकर दिल को खराब कर देते हैं इसलिए कभी भी झूठी बातें सुनकर अन्दर में जलना नहीं चाहिए। पूछो फलाने ने मेरे लिए ऐसे कहा है? अन्दर सफाई होनी चाहिए। कई बच्चे सुनी-सुनाई बातों पर भी आपस में दुश्मनी रख देते हैं। बाप मिला है तो बाप से पूछना चाहिए ना। ब्रह्मा बाबा पर भी बहुतों को विश्वास नहीं होता है। शिवबाबा को भी भूल जाते हैं। बाप तो आये हैं सबको ऊंच बनाने। प्यार से उठाते रहते हैं। ईश्वरीय मत लेनी चाहिए। निश्चय ही नहीं होगा तो पूछेंगे ही नहीं तो रेसपान्ड भी नहीं मिलेगा। बाप जो समझाते हैं उसको धारण करना चाहिए।

तुम बच्चे श्रीमत पर विश्व में शान्ति स्थापन करने के निमित्त बने हो। एक बाप के सिवाए और कोई की मत ऊंच ते ऊंच हो नहीं सकती। ऊंच ते ऊंच मत है ही भगवान् की। जिससे मर्तबा भी कितना ऊंचा मिलता है। बाप कहते हैं अपना कल्याण कर ऊंच पद पाओ, महारथी बनो। पढ़ेंगे ही नहीं तो क्या पद पायेंगे। यह है कल्प-कल्पान्तर की बात। सतयुग में दास-दासियां भी नम्बरवार होते हैं। बाप तो आये हैं ऊंच बनाने परन्तु पढ़ते ही नहीं हैं तो क्या पद पायेंगे। प्रजा में भी तो ऊंच-नीच पद होते हैं ना, यह बुद्धि से समझना है। मनुष्यों को पता नहीं पड़ता है कि हम कहाँ जाते हैं। ऊपर जाते हैं या नीचे उतरते जाते हैं। बाप आकर तुम बच्चों को समझाते हैं कहाँ तुम गोल्डन, सिलवर एज में थे, कहाँ आइरन एज में आये हो। इस समय तो मनुष्य, मनुष्य को खा लेते हैं। अब यह सभी बातें जब समझें तब कहें कि ज्ञान किसको कहा जाता है। कई बच्चे एक कान से सुनकर दूसरे से निकाल देते हैं। अच्छे-अच्छे सेन्टर्स के अच्छे-अच्छे बच्चों की क्रिमिनल आई रहती है। फायदा, नुकसान, इज्ज़त की परवाह थोड़ेही रखते हैं। मूल बात है ही क्रिमिनल आई की। बाप समझाते हैं काम महाशत्रु है, इनको जीतने के लिए कितना माथा मारते हैं। मूल बात है ही पवित्रता की। इस पर ही कितने झगड़े होते हैं। बाप कहते हैं यह काम महाशत्रु है, इन पर जीत पहनो तब ही जगत जीत बनेंगे। देवतायें सम्पूर्ण निर्विकारी हैं ना। आगे चल समझ ही जायेंगे। स्थापना हो ही जायेगी। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) कभी भी सुनी-सुनाई बातों पर विश्वास करके अपनी स्थिति खराब नहीं करनी है। अन्दर में सफाई रखनी है। झूठी बातें सुनकर अन्दर में जलना नहीं है, ईश्वरीय मत ले लेनी है।

2) देही-अभिमानी बनने का पूरा पुरुषार्थ करना है, किसी की भी निंदा नहीं करनी है। फायदा, नुकसान और इज्ज़त को ध्यान में रखते हुए क्रिमिनल आई को खत्म करना है। बाप जो सुनाते हैं उसे एक कान से सुनकर दूसरे से निकालना नहीं है।

वरदान:- निश्चय और नशे के आधार से हर परिस्थिति पर विजय प्राप्त करने वाले सिद्धि स्वरूप भव
योग द्वारा अब ऐसी सिद्धि प्राप्त करो जो अप्राप्ति भी प्राप्ति का अनुभव कराये। निश्चय और नशा हर परिस्थिति में विजयी बना देता है। आगे चलकर ऐसे पेपर भी आयेंगे जो सूखी रोटी भी खानी पड़ेगी। लेकिन निश्चय, नशा और योग के सिद्धि की शक्ति सूखी रोटी को भी नर्म बना देगी। परेशान नहीं करेगी। आप सिद्धि स्वरूप की शान में रहो तो कोई भी परेशान नहीं कर सकता। कोई भी साधन हैं तो आराम से यूज़ करो लेकिन समय पर धोखा न दें – यह चेक करो।
स्लोगन:- निमित्त बन यथार्थ पार्ट बजाओ तो सर्व के सहयोग की मदद मिलती रहेगी।

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 30 JUNE 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 June 2019

To Read Murli 29 June 2019 :- Click Here
30-06-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 19-12-84 मधुबन

सर्वश्रेष्ठ, सहज तथा स्पष्ट मार्ग

आज बापदादा विशेष स्नेही, सदा साथ निभाने वाले अपने साथियों को देख रहे हैं। साथी अर्थात् सदा-साथ रहने वाले। हर कर्म में, संकल्प में साथ निभाने वाले। हर कदम पर कदम रख आगे बढ़ने वाले। एक कदम भी मनमत, परमत पर उठाने वाले नहीं। ऐसे सदा साथी के साथ निभाने वाले सदा सहज मार्ग का अनुभव करते हैं क्योंकि बाप वा श्रेष्ठ साथी हर कदम रखते हुए रास्ता स्पष्ट और साफ कर देते हैं। आप सबको सिर्फ कदम के ऊपर कदम रखकर चलना है। रास्ता सही है, सहज है, स्पष्ट है – यह सोचने की भी आवश्यकता नहीं। जहाँ बाप का कदम है वह है ही श्रेष्ठ रास्ता। सिर्फ कदम रखो और हर कदम में पदम लो। कितना सहज है। बाप साथी बन साथ निभाने के लिए साकार माध्यम द्वारा हर कदम रूपी कर्म करके दिखाने के लिए साकार सृष्टि पर अवतरित होते हैं। यह भी सहज करने के लिए साकार को माध्यम बनाया है। साकार में फालो करना वा कदम पर कदम रखना तो सहज है ना। श्रेष्ठ साथी ने साथियों के लिए इतना सहज मार्ग बताया – क्योंकि बाप साथी जानते है कि जिन साथियों को साथी बनाया है, यह बहुत भटके हुए होने के कारण थके हुए हैं। निराश हैं, निर्बल हैं। मुश्किल समझ दिलशिकस्त हो गये हैं इसलिए सहज से सहज सिर्फ कदम पर कदम रखो। यही सहज साधन बताते हैं। सिर्फ कदम रखना आपका काम है, चलाना, पार पहुँचाना, कदम-कदम पर बल भरना, थकावट मिटाना यह सब साथी का काम है। सिर्फ कदम नहीं हटाओ। सिर्फ कदम रखना यह तो मुश्किल नहीं है ना। कदम रखना अर्थात् संकल्प करना। जो साथी कहेंगे, जैसे चलायेंगे वैसे चलेंगे। अपना नहीं चलायेंगे। अपना चलाना अर्थात् चिल्लाना। तो ऐसा कदम रखना आता है ना। क्या यह मुश्किल है? जिम्मेवारी लेने वाला जिम्मेवारी ले रहे हैं तो उसके ऊपर जिम्मेवारी सौंपने नहीं आती है? जब साकार माध्यम को मार्गदर्शन स्वरूप बनाए सैम्पुल भी रखा फिर मार्ग पर चलना मुश्किल क्यों? सहज साधन सेकण्ड का साधन है। जो साकार रूप में ब्रह्मा बाप ने जैसे किया जो किया वही करना है। फालो फादर करना है।

हर संकल्प को वेराफाय करो। बाप का संकल्प सो मेरा संकल्प है? कापी करना भी नहीं आता? दुनिया वाले कापी करने से रोकते हैं और यहाँ तो करना ही सिर्फ कापी हैं। तो सहज हुआ या मुश्किल हुआ? जब सहज, सरल, स्पष्ट रास्ता मिल गया तो फालो करो। और रास्तों पर जाते ही क्यों हो? और रास्ता अर्थात् व्यर्थ संकल्प रूपी रास्ता। कमजोरी के संकल्प रूपी रास्ता। कलियुगी आकर्षण के भिन्न-भिन्न संकल्पों का रास्ता। इन रास्तों द्वारा उलझन के जंगल में पहुँच जाते हो। जहाँ से जितना निकलने की कोशिश करते हो उतना चारों ओर काँटे होने के कारण निकल नहीं पाते हो। काँटे क्या होते हैं? कहाँ, क्या होगा – यह ‘क्या’ का काँटा लगता। कहाँ ‘क्यों’ का काँटा लगता, कहाँ ‘कैसे’ का काँटा लगता। कहाँ अपने ही कमजोर संस्कारों का काँटा लगता। चारों ओर काँटे ही काँटे नजर आते हैं। फिर चिल्लाते हैं अब साथी आकर बचाओ। तो साथी भी कहते हैं कदम पर कदम रखने के बजाए और रास्ते पर गये क्यों? जब साथी साथ देने के लिए स्वयं आफर कर रहे हैं फिर साथी को छोड़ते क्यों? किनारा करना अर्थात् सहारा छूटना। अकेले बनते क्यों हो? हद के साथ की आकर्षण चाहे किसी सम्बन्ध की, चाहे किसी साधन की अपने तरफ आकर्षित करती है इसी आकर्षण के कारण साधन को वा विनाशी सम्बन्ध को अपना साथी बना लेते हो वा सहारा बना देते हो तब अविनाशी साथी से किनारा करते हो और सहारा छूट जाता है। आधाकल्प इन हद के सहारे को सहारा समझ अनुभव कर लिया कि यह सहारा है वा दलदल है। फँसाया, गिराया वा मंजिल पर पहुँचाया? अच्छी तरह अनुभव किया ना। एक जन्म के अनुभवी तो नहीं हो ना। 63 जन्मों के अनुभवी हो। और भी एक दो जन्म चाहिए?एक बार धोखा खाने वाला दुबारा धोखा नहीं खाता है। अगर बार-बार धोखा खाता है तो उसको भाग्यहीन कहा जाता है। अब तो स्वयं भाग्य विधाता ब्रह्मा बाप ने सभी ब्राह्मणों की जन्म पत्री में श्रेष्ठ भाग्य की लम्बी लकीर खींच ली है ना। भाग्य विधाता ने आपका भाग्य बनाया है। भाग्य विधाता बाप होने के कारण हर ब्राह्मण बच्चे को भाग्य के भरपूर भण्डार का वर्सा दे दिया है। तो सोचो भाग्य के भण्डार के मालिक के बालक उसको क्या कमी रह सकती है।

मेरा भाग्य क्या है – सोचने की भी आवश्यकता नहीं क्योंकि भाग्यविधाता बाप बन गया तो बच्चे को भाग्य के जायदाद की क्या कमी होगी। भाग्य के खजाने के मालिक हो गये ना। ऐसे भाग्यवान कभी धोखा नहीं खा सकते हैं इसलिए सहज रास्ता कदम पर कदम उठाओ। स्वयं ही स्वयं को उलझन में डालते हो, साथी का साथ छोड़ देते हो। सिर्फ यह एक बात याद रखो कि हम श्रेष्ठ साथी के साथ हैं। वेरीफाय करो। तो सदा स्वयं से सैटिस्फाय रहेंगे। समझा – सहज रास्ता। सहज को मुश्किल नहीं बनाओ। संकल्प में भी कभी मुश्किल अनुभव नहीं करना। ऐसे दृढ़ संकल्प करने आता है ना कि वहाँ जाकर फिर कहेंगे कि मुश्किल है। बापदादा देखते हैं कि नाम सहज योगी है और अनुभव मुश्किल होता है। मानते अपने को अधिकारी हैं और बनते अधीन हैं। हैं भाग्यविधाता के बच्चे और सोचते हैं पता नहीं मेरा भाग्य है वा नहीं। शायद यही मेरा भाग्य है इसलिए अपने आपको जानो और सदा स्वयं को हर समय के साथी समझ चलते चलो। अच्छा!

ऐसे सदा हर कदम पर कदम रखने वाले, फालो फादर करने वाले, सदा हर संकल्प में साथी का साथ अनुभव करने वाले, सदा एक साथी दूसरा न कोई, ऐसे प्रीत निभाने वाले, सदा सहज योगी, श्रेष्ठ भाग्यवान विशेष आत्माओं को बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

अव्यक्त बापदादा की पर्सनल मुलाकात –

कुमारियों से

1) कुमारियाँ अर्थात् कमाल करने वाली। साधारण कुमारियाँ नहीं, अलौकिक कुमारियाँ हो। लौकिक इस लोक की कुमारियाँ क्या करतीं और आप अलौकिक कुमारियाँ क्या करती हो? रात दिन का फर्क है। वह देह-अभिमान में रह औरों को भी देह-अभिमान में गिराती और आप सदा देही-अभिमानी बन स्वयं भी उड़ती और दूसरों को भी उड़ाती – ऐसी कुमारियाँ हो ना। जब बाप मिल गया तो सर्व सम्बन्ध एक बाप से सदा हैं ही। पहले कहने मात्र थे, अभी प्रैक्टिकल है। भक्तिमार्ग में भी गायन जरूर करते थे कि सर्व सम्बन्ध बाप से हैं लेकिन अब प्रैक्टिकल सर्व सम्बन्धों का रस बाप द्वारा मिलता है। ऐसे अनुभव करने वाली हो ना। जब सर्व रस एक बाप द्वारा मिलता है तो और कहाँ भी संकल्प जा नहीं सकता। ऐसे निश्चय बुद्धि विजयी रतन सदा गाये और पूजे जाते हैं। तो विजयी आत्मायें हैं, सदा स्मृति के तिलकधारी आत्मायें हैं, यह स्मृति रहती है? इतनी कुमारियाँ कौन-सी कमाल करेंगे? सदा हर कर्म द्वारा बाप को प्रत्यक्ष करेंगी। हर कर्म से बाप दिखाई दे। कोई बोल भी बोलो तो ऐसा बोल हो जो उस बोल में बाप दिखाई दे। दुनिया में भी कोई बहुत अच्छा बोलने वाले होते हैं। तो सब कहते हैं इसको सिखाने वाला कौन? उसके तरफ दृष्टि जाती है। ऐसे आपके हर कर्म द्वारा बाप की प्रत्यक्षता हो। ऐसी धारणामूर्त दिव्यमूर्त यह विशेषता है। भाषण करने वाले तो सभी बनते हैं लेकिन अपने हर कर्म से भाषण करने वाले वह कोटों में कोई होते हैं। तो ऐसी विशेषता दिखायेंगी ना। अपने चरित्र द्वारा बाप का चित्र दिखाना। अच्छा !

2) कुमारियों का झुण्ड है। सेना तैयार हो रही है। वह तो लेफ्ट राइट करते, आप सदा राइट ही राइट करते। यह सेना कितनी श्रेष्ठ है, शान्ति द्वारा विजयी बन जाते। शान्ति से ही स्वराज्य पा लेते। कोई हलचल नहीं करनी पड़ती है। तो पक्की शक्ति सेना की शक्तियाँ हो, सेना छोड़कर जाने वाली नहीं। स्वप्न में भी कोई हिला न सके। कभी भी किसी के संगदोष में आने वाली नहीं। सदा बाप के संग में रहने वाले दूसरे के संग में नहीं आ सकते। तो सारा ग्रुप बहादुर है ना। बहादुर क्या करते हैं? मैदान पर आते हैं। तो हो सभी बहादुर लेकिन मैदान पर नहीं आई हो। बहादुर जब मैदान पर आते हैं तो देखा होगा कि बहादुर की बहादुरी में बैण्ड बजाते हैं। आप भी जब मैदान पर आयेंगी तो खुशी की बैण्ड बजेगी। कुमारियाँ सदा ही श्रेष्ठ तकदीरवान हैं। कुमारियों को सेवा का बहुत अच्छा चांस है और मिलने वाला भी है क्योंकि सेवा बहुत है और सेवाधारी कम हैं। जब सेवाधारी सेवा पर निकलेंगे तो कितनी सेवा हो जायेगी। देखेंगे कुमारियाँ क्या कमाल करती हैं। साधारण कार्य तो सब करते हैं लेकिन आप विशेष कार्य करके दिखाओ। कुमारियाँ घर का श्रृंगार हो। लौकिक में कुमारियों को क्या भी समझें लेकिन पारलौकिक घर में कुमारियाँ महान हैं। कुमारियाँ हैं तो सेन्टर की रौनक है। माताओं के लिए भी विशेष लिफ्ट है। पहले माता गुरू है। बाप ने माता गुरू आगे किया है तब भविष्य में माताओं का नाम आगे है। अच्छा!

टीचर्स के साथ :- टीचर्स अर्थात् बाप समान। जैसे बाप वैसे निमित्त सेवाधारी। बाप भी निमित्त है तो सेवाधारी भी निमित्त आत्मायें हैं। निमित्त समझने से स्वत: ही बाप समान बनने का संस्कार प्रैक्टिकल में आता है। अगर निमित्त नहीं समझते तो बापसमान नहीं बन सकते। तो एक निमित्त दूसरा सदा न्यारा और प्यारा। यह बाप की विशेषता है। प्यारा भी बनता और न्यारा भी रहता। न्यारा बनकर प्यारा बनता है। तो बाप समान अर्थात् अति न्यारे और अति प्यारे। औरों से न्यारे और बाप से प्यारे। यह समानता है। बाप की यही दो विशेषतायें हैं। तो बाप समान सेवाधारी भी ऐसे हैं। इसी विशेषता को सदा स्मृति में रखते हुए सहज आगे बढ़ती जायेंगी। मेहनत नहीं करनी पड़ेगी। जहाँ निमित्त हैं वहाँ सफलता है ही। वहाँ मेरा-पन आ नहीं सकता। जहाँ मेरा-पन है वहाँ सफलता नहीं। निमित्त भाव सफलता की चाबी है। जब हद का लौकिक मेरा-पन छोड़ दिया तो फिर और मेरा कहाँ से आया। मेरा के बजाए बाबा बाबा कहने से सदा सेफ हो जाते। मेरा सेन्टर नहीं बाबा का सेन्टर। मेरा जिज्ञासु नहीं बाबा का। मेरा खत्म होकर तेरा बन जाता। तेरा कहना अर्थात् उड़ना। तो निमित्त शिक्षक अर्थात् उड़ती कला के एक्जैम्पल। जैसे आप उड़ती कला के एक्जैम्पुल बनते वैसे दूसरे भी बनते हैं। न चाहते भी जिसके निमित्त बनते हो उनमें वह वायब्रेशन स्वत: आ जाते हैं। तो निमित्त शिक्षक, सेवाधारी सदा न्यारे हैं, सदा प्यारे हैं। कभी भी कोई पेपर आवे तो उसमें पास होने वाले हैं। निश्चयबुद्धि विजयी हैं।

पार्टियों से:-

1) सदा स्वयं को डबल लाइट फरिश्ता अनुभव करते हो? फरिश्ता अर्थात् जिसकी दुनिया ही एक बाप हो। ऐसे फरिश्ते सदा बाप के प्यारे हैं। फरिश्ता अर्थात् देह और देह के सम्बन्धों से कोई आकर्षण नहीं। निमित्त मात्र देह में हैं और देह के सम्बन्धियों से कार्य में आते हैं लेकिन लगाव नहीं क्योंकि फरिश्तों के और कोई से रिश्ते नहीं होते। फरिश्ते के रिश्ते एक बाप के साथ हैं। ऐसे फरिश्ते हो ना। अभी-अभी देह में कर्म करने के लिए आते और अभी-अभी देह से न्यारे। फरिश्ते सेकण्ड में यहाँ, सेकण्ड में वहाँ, क्योंकि उड़ने वाले हैं। कर्म करने के लिए देह का आधार लिया और फिर ऊपर। ऐसे अनुभव करते हो? अगर कहाँ भी लगाव है, बन्धन है तो बन्धन वाला ऊपर नहीं उड़ सकता। वह नीचे आ जायेगा। फरिश्ते अर्थात् सदा उड़ती कला वाले। नीचे ऊपर होने वाले नहीं। सदा ऊपर की स्थिति में रहने वाले। फरिश्तों के संसार में रहने वाले। तो फरिश्ता स्मृति स्वरूप बने तो सब रिश्ते खत्म। ऐसे अभ्यासी हो ना। कर्म किया और फिर न्यारे। लिफ्ट में क्या करते हैं? अभी-अभी नीचे, अभी-अभी ऊपर। नीचे आये कर्म किया और फिर स्विच दबाया और ऊपर। ऐसे अभ्यासी। अच्छा – ओम् शान्ति।

2) सभी रूहानी गुलाब हो ना! मोतिया हो या गुलाब? जैसे गुलाब का पुष्प सब पुष्पों में से श्रेष्ठ गाया जाता है ऐसे रूहानी गुलाब अर्थात् श्रेष्ठ आत्मायें। रूहानी गुलाब सदा रूहानियत में रहने वाला, सदा रुहानी नशे में रहने वाला। सदा रुहानी सेवा में रहने वाला – ऐसे रूहानी गुलाब हो। आजकल के समय प्रमाण रूहानियत की आवश्यकता है। रूहानियत न होने के कारण ही यह सब लड़ाई झगड़े हैं। तो रूहानी गुलाब बन रूहानियत की खुशबू फैलाने वाले। यही ब्राह्मण जीवन का आक्यूपेशन है। सदा इसी आक्यूपेशन में बिजी रहो।

वरदान:- ब्रह्मा बाप समान जीवनमुक्त स्थिति का अनुभव करने वाले कर्म के बन्धनों से मुक्त भव 
ब्रह्मा बाप कर्म करते भी कर्मो के बंधन में नहीं फंसे। सम्बन्ध निभाते भी सम्बन्धों के बंधन में नहीं बंधे। वे धन और साधनों के बंधन से भी मुक्त रहे, जिम्मेवारियां सम्भालते हुए भी जीवनमुक्त स्थिति का अनुभव किया। ऐसे फालो फादर करो। किसी भी पिछले हिसाब-किताब के बंधन में बंधना नहीं। संस्कार, स्वभाव, प्रभाव और दबाव के बंधन में भी नहीं आना तब कहेंगे कर्मबंधन मुक्त, जीवनमुक्त।
स्लोगन:- अपनी आत्मिक वृत्ति से प्रवृत्ति की सर्व परिस्थितियों को चेंज कर दो।

 

TODAY MURLI 30 JUNE 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma Kumaris: 30 June 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 29 June 2019:- Click Here

30/06/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
19/12/84

The most elevated, easy and clear path.

Today, BapDada is especially seeing His loving companions who always fulfil the responsibility of companionship. A companion means someone who is always with you, someone who fulfils the responsibility of companionship in every act and thought, someone who moves forward placing each footstep in every step, someone who doesn’t take a single step according to the dictates of his own mind or the dictates of others. Those who fulfil the responsibility of constant companionship always experience this to be an easy path, because the Father, the elevated Companion, make this path clear and clean by stepping along it. You simply have to continue to move along by placing your footsteps in His footsteps. There is not even any need to think whether the path is right, easy or clear. Where the Father has placed His footsteps, it is anyway an elevated path. Simply take steps and claim multimillions at every step. It is so easy. The Father incarnates in the corporeal world and becomes your Companion in order to fulfil the responsibility of companionship and places the feet of His acts through the corporeal medium to demonstrate to you. He made the corporeal one His medium in order to make it easy for you. It is easy to follow and place your footsteps in His footsteps in the corporeal form, is it not? The elevated Companion has shown His companions such an easy path because the Father, the Companion, knows that the ones whom He had made His companions have wandered around a great deal and have thereby become weary. They are disheartened and weak. They became disheartened by thinking it was difficult. That is why this is the easiest of all. Simply place your steps in His footsteps. Baba shows you this easy method. It is your duty simply to place your footsteps in His. To make you move, to make you go across, to fill you with power at every step and to remove your tiredness is the duty of your Companion. Just don’t place your footsteps anywhere else. Simply to place your steps in His footsteps is not difficult, is it? To place your footsteps means to have a thought. Whatever the Companion says, however He makes you move, you will move in that way. You will not use your own head. To use your own head means to cry out in distress. So, you know how to place your footsteps in this way, do you not? Is this difficult? The One who takes all responsibility is taking responsibility. So, do you not know how to hand over any responsibility to Him? Since He has kept the corporeal medium as a sample to show you the path, why is it difficult to follow the path? The easy way is a method of just a second. What Father Brahma did in the corporeal form and how he did it is all you have to do. You simply have to follow the father.

Verify every thought. Is my thought the same as the Father’s thought? Do you not know how to copy? People in the world stop you from copying, whereas here, you simply have to copy. So, is this easy or difficult? Since you have found an easy, simple and clear path, simply follow it. Why do you go onto other paths? Other paths are paths of waste thoughts. They are paths of thoughts of weakness. They are paths of the different thoughts of iron-aged attractions. By following those paths, you end up in a forest of confusion and, because of having so many thorns all around you, you are not able to come out of it when you try. What are those thorns? Sometimes, you are pricked by the thorn of “What will happen?” Sometimes, you are pricked by the thorn of “Why?” Sometimes, you are pricked by the thorn of “How?” Sometimes, you are pricked by the thorns of your own weak sanskars. Everywhere you look, you only see thorns. You then cry out: Companion, now come and save me! The Companion then says: Instead of placing your steps in My footsteps, why did you go onto another path? Since the Companion Himself is offering you His companionship, why do you leave that Companion? To step away means to let go of your support. Why do you go off on your own? The attraction of limited company, of some relationship or some facility attracts you to itself and, because of that attraction, you make that facility or perishable relationship your companion or your support and you then step away from the eternal Companion and your support is lost. For half the cycle, you considered those limited supports to be your supports. You have experienced whether they were true supports or quicksand. Did they trap you or make you fall or did they enable you to reach your destination? You experienced that very clearly, did you not? You have not experienced those for just one birth, but you have experienced them for 63 births. Do you still want one or two more births? Those who are deceived once should not be deceived a second time. Those who are repeatedly deceived are said to be unfortunate. Now, the Bestower of Fortune and Father Brahma himself have drawn the long line of elevated fortune in the horoscope of all Brahmins. The Bestower of Fortune has created your fortune. Because the Bestower of Fortune is your Father, He has given every Brahmin child the inheritance of the full treasure-store of fortune. Therefore, just think about it: What could be lacking for someone who is a child of the Master of the treasure-store of fortune?

You don’t even need to think, “What is my fortune?”, because the Bestower of Fortune has become your Father and so what would a child lack in terms of the property of fortune? You have become masters of the treasures of fortune, have you not? Those who are so fortunate can never be deceived. Therefore, the easy way is to place your steps in His footsteps. You confused yourself and let go of the company of your Companion. Simply remember this one thing constantly: I am in the company of the elevated Companion. Verify this and you will always remain satisfied with yourself. Do you understand the easy way? Don’t make easy things difficult. Don’t experience anything to be difficult even in your thoughts. You know how to have such determined thoughts, do you not? Or, when you go back to your respective places, will you say that it is difficult? BapDada sees that, even though you are called easy yogis, you experience things to be difficult. You consider yourselves to be those who have a right and yet you become dependent. You are children of the Bestower of Fortune and you question whether you have fortune or not. “Perhaps just this much is my fortune!” Therefore, know yourself and always move along considering yourself to be a companion at every moment. Achcha.

To those who place their steps in His footsteps at every step, to those who follow the father, to those who constantly experience the company of the Companion in every thought, to those who fulfil the responsibility of love and always belong to the one Companion and none other, to those who are easy yogis, to the elevated, fortunate, special souls BapDada’s love, remembrance and namaste.

Avyakt BapDada having personal meetings with kumaris:

1) Kumaris are those who perform wonders. You are not ordinary kumaris, you are alokik kumaris. What do lokik kumaris of this world do and what do you alokik kumaris do? There is the difference of day and night. They stay in body consciousness and make others fall into body consciousness, whereas you remain constantly soul conscious and fly and make others fly. You are such kumaris, are you not? Since you have found the Father, you have all relationships with the one Father. Previously, it was just in name, but now it is practical. On the path of devotion too, you used to sing: We have all relationships with the Father. However, you now receive the sweetness from having all relationships with the Father in a practical way. You are those who have such an experience, are you not? When you receive all sweetness from the one Father, your thoughts cannot go anywhere else. Those who are victorious jewels whose intellects have such faith are always remembered and worshipped. Are you aware that you are victorious souls, that you are souls who always have the tilak of remembrance? What wonders will so many of you kumaris perform? You will constantly reveal the Father through your every act. Let the Father be visible in your every act. Even let the words you speak be such that the Father is visible in them. Some people in the world speak very well. Everyone then wonders who taught that person. Their vision goes to that person. In the same way, let the Father be revealed in your every act. Your speciality is being embodiments of dharna, embodiments of divinity. All become those who give lectures, but only a handful out of multimillions become those who give a lecture through their every act. So, you will reveal such a speciality, will you not? Show the image of the Father through your activity. Achcha.

2) This is a big group of kumaris. An army is being prepared. Those people do “left, right” and you always do that which is right. This army is so elevated. You become victorious through peace. You attain self-sovereignty through peace. You don’t have to create any upheaval. So, you are the Shaktis of the very strong Shakti Army. You are not those who will leave the army. No one can shake you, even in your dreams. You are not those who are ever influenced by anyone’s company. Those who constantly stay in the Father’s company cannot be influenced by any other company. Therefore, the whole group of you is a brave group, is it not? What do those who are brave do? They go onto the battlefield. So, all of you are brave, but you haven’t gone onto the field as yet. When brave ones go onto a battlefield, you must have seen how a band plays when brave ones show such bravery. When you go onto the field, bands of happiness will play. Kumaris always have elevated fortune. Kumaris have a very good chance for serving. There are going to be more chances too, because there is a lot of service to be done and few servers. When you servers go out on service, how much service will get done! We shall see what wonders the kumaris perform. Everyone carries out ordinary tasks, but you have to carry out a special task. Kumaris are the decoration of the home. No matter what they consider kumaris to be in the world, kumaris in the parlokik home are considered to be great. There is beauty in a centre when kumaris are there. There is also a special lift for the mothers. First is the mother guru. The Father has placed the mother gurus ahead and this is why, in the future, the name of the mothers (women) is first. Achcha.

BapDada meeting teachers:

Teachers mean those who are equal to the Father. As is the Father, so are you instrument servers. The Father becomes the Instrument and so servers too are instrument souls. By considering yourself to be an instrument, you automatically develop sanskars of being equal to the Father in a practical way. If you don’t consider yourself to be an instrument, you cannot then become equal to the Father. Therefore, first is to be an instrument and the next is to be constantly detached and loving. This is the Father’s speciality. He becomes loving and also remains detached. He is loving whilst detached. So, to be equal to the Father means to be extremely detached and extremely loving. To be detached from others and loving to the Father; this is being equal. These are the two specialities of the Father. So, servers who are equal to the Father are also like that. By constantly keeping this speciality in your awareness, you will easily continue to move forward; you won’t have to make effort. Where you are an instrument, success is guaranteed. There cannot be the consciousness of “mine” there. Where there is the consciousness of “mine”, there isn’t success. To have the feeling of being an instrument is the key to success. Since you have let go of any limited, worldly “mine”, where did any other “mine” come from? Instead of saying “mine” say, “Baba, Baba!”, and you will be constantly safe. It is not my centre, but Baba’s centre. Not my student, but Baba’s student. “Mine” finishes and, instead, it becomes “Yours”. To say, “Yours” means to fly. So to be instrument teachers means to be examples of the flying stage. Just as you become examples of the flying stage, in the same way, others also become that. Even against your conscious wish, those for whom you become instruments receive those vibrations automatically. So, instrument teachers, servers, are constantly detached and constantly loving. You are those who will pass any paperwhenever you are faced with a paper. You are victorious ones whose intellects have faith.

Meeting groups:

1. Do you constantly experience yourselves to be doublelight angels? An angel means one whose world is the one Father alone. Such angels are always loved by the Father. Angels means those who don’t have any attraction to bodies or bodily relationships. Each of you is in a body in name and you interact with bodily relations, but not with attachment because angels don’t have a relationship with anyone else. Angels only have a relationship with the one Father. You are such angels, are you not? One minute you come into your body to act and the next moment you become detached from your body. Angels are here one second and somewhere else in the next because they are the ones who fly. They take the support of a body in order to act and then they go up above. Do you experience this? If there is attachment anywhere, if there is a bondage, then those with a bondage cannot fly; they would come down. Angels means those who are constantly in the flying stage, not those who fluctuate. You are those who constantly stay in the stage above, the ones who stay in the world of angels. So, when you become angels, embodiments of remembrance, all other relationships end. You have such a practice, do you not? You perform actions and then become detached. What do you do in a lift? One minute you are down and the next minute you go up. You come down, perform your actions and then press the switch and go up again. Have such a practice. Achcha.

2) All of you are spiritual roses, are you not? Are you jasmines or are you roses? Just as roses are said to be the most elevated of flowers, in the same way, spiritual roses means the most elevated souls. Spiritual roses are those who always maintain their spirituality, those who always maintain spiritual intoxication, those who always do spiritual service. You are such spiritual roses. According to the present time, there is a need for spirituality. It is because of not having spirituality, that there is all that fighting and quarrelling. So, become spiritual roses and spread spiritual fragrance. This is the occupation of Brahmin life. Stay constantly busy in this occupation.

Blessing: May you be free from any bondage of karma and experience the stage of liberation in life, like Father Brahma.
While performing actions, Father Brahma did not become trapped in any bondage of karma. While fulfilling the responsibility of relationships, he did not allow himself to be tied in any bondage of those relationships. He also remained free from the bondage of wealth and facilities. While looking after his responsibilities, he experienced the stage of liberation in life. Follow the father in the same way. Do not become tied in any bondage of past karmic accounts. Do not even be influenced by any sanskars or nature or get into any bondage of being impressed or suppressed. You would then be said to be free from karmic bondage and liberated in life.
Slogan: Change all adverse situations of your family with your soul-conscious attitude.

 

*** Om Shanti ***
Font Resize