Month: April 2019

BRAHMAKUMARIS Aaj Ka Purusharth 30 APRIL 2019 – आज का पुरूषार्थ

To Read 29 April Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

Om Shanti
30.04.2019

★【 आज का पुरूषार्थ】★

बाबा कहते हैं … बच्चे, बाप-समान बनना सहज नहीं है…, इसके लिए 100% त्याग, तपस्या अर्थात् समर्पण भाव चाहिए … 100% निश्चय चाहिए … क्योंकि हर कार्य सूक्ष्म है…। 
इस स्थूल नेत्रों से कुछ दिखाई नहीं देता…।

परन्तु यहाँ है परमपिता परमात्मा, सर्व कल्याणकारी, पालनहार भगवान जोकि अपने बच्चों की छोटी-बड़ी हर समस्या को सहज ही अर्थात् हर तूफान को तोहफे में परिवर्तन कर देता है…, बस wait and watch की आवश्यकता है…।

भक्तों को भक्ति का फल जल्दी मिलता है, परन्तु बच्चों को हर तरह का त्याग कर अपना 100% दे, तपस्या कर, कई तरह के papers देने पड़ते हैं, तब ही बच्चे अपने लक्ष्य को प्राप्त कर अपनी प्राप्तियों को, जोकि अपरमअपार है, को प्राप्त करते हैं…।

जैसे; 
एक बच्चा, थोड़ी-सी मेहनत कर कमाने लग जाये, तो थोड़ी-सी मेहनत से थोड़ी बहुत प्राप्ति होनी शुरू हो जाती है … और दूसरी तरफ एक बच्चा पढ़ने लगे … तो उसे तन, मन, धन भी लगाना पड़ता है … और paper भी देने पड़ते है…।

परन्तु जब तक वो अपने aim तक नहीं पहुँचता, तब तक प्राप्ति कुछ नहीं…। 
परन्तु aim पर पहुँचते ही दोनों बच्चों में ज़मीन-आसमान का अन्तर दिखता है…!

इसलिए बच्चे, आप उमंग-उत्साह के साथ, स्वयं पर attention दे आगे बढ़ो…। 
यहाँ पर आप बच्चों की हर तरह से सम्भाल रखने की guarantee स्वयं भगवान की है, इसलिए निश्चिन्त रहो…।

अच्छा। ओम् शान्ति।

【 Peace Of Mind TV 】
Dish TV # 1087 | Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 |
Jio TV |

TODAY MURLI 1 MAY 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 1 May 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 April 2019 :- Click Here

01/05/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you have come here to receive tuition to change from human beings into deities. You are becoming diamonds from shells.
Question: Why do you children not incur any expense for this study?
Answer: Because your Father, Himself, is your Teacher. How could the Father takes fees from His children? When you become a child of the Father and go into His lap, you claim a right to the inheritance. You children become deities like diamonds without spending as much as a shell. On the path of devotion, people go on pilgrimages and make donations and perform charity, and all of that is nothing but expense. Here, the Father gives you children a kingdom. He gives you the whole inheritance free. Therefore, become pure and claim your inheritance.

Om shanti. You children understand that you are students. What are the students of the Father studying? We are receiving tuition to change from human beings into deities. We souls are receiving tuition from the Supreme Father, the Supreme Soul. We have now understood that, for birth after birth, we used to consider ourselves to be bodies, not souls. A physical father would send his children somewhere for tuition and somewhere else for salvation. When a father becomes old, he desires to go into the stage of retirement. However, no one understands the meaning of the stage of retirement. How can we go beyond sound? This doesn’t sit in their intellects. We are now impure. You were pure in the place where souls came from. Having come here, you became impure while playing your parts. Now, who would make you pure? People call out: O Purifier! None would call their guru the Purifier. They adopt a guru and yet they don’t have full faith in that one. This is why they look for another guru who would enable them to reach their home and take them beyond sound. Many methods are created for this. When they hear that So-and-so is praised a lot, they would go to that one. The arrows of your knowledge will hit those who are the sapling of this tree. They will understand that this is very clear. You truly go into the stage of retirement. It is not a big thing; for a teacher to teach at school. No one knows what devotees want. You children now know very well the cycle of this drama. You understand that the Father, Himself, truly gave you the inheritance which He is now giving you again. You will then reach that same stage again. Only you children understand this. The first and foremost thing is to remember the Father in order to become pure. Everyone remembers their physical father. They don’t know their parlokik Father at all. You now understand that it is the easiest and also the most difficult of all to consider yourself to be a soul and to remember the Father. A soul is such a tiny star and the Father is also a star. He is a completely pure soul and this one is completely impure. The company of the One who is completely pure can take you across, but that is the company of only the One. You definitely need company. You also have the bad company of Ravan, the five vices. That is called the community of Ravan. You are now becoming those who belong to the community of Rama. When you become part of the community of Rama, that community of Ravan will no longer remain here. You have this knowledge in your intellects. God is called Rama. God Himself comes and establishes the kingdom of Rama, that is, He establishes the sun-dynasty kingdom. It cannot be called the kingdom of Rama, but it is easy to explain about the kingdom of Rama and the kingdom of Ravan. In fact, it is the sun-dynasty kingdom. You have a small booklet: How can you make your life like a diamond? Now, what do human beings, apart from you, know what a life like a diamond is? You should write: How can you create a deity-like, diamond life? You should add the word ‘deity’. You feel that you are making your life like a diamond here. No one, apart from the Father, can make it like that. The book is good, but add these words: You can attain a deity-like, diamond life from a devilish, shell-like life in a second without spending as much as a shell. When a child takes birth, he has a right to his father’s inheritance. Does the child incur any expense? As soon as he goes into the lap, he claims a right to the inheritance. It is the father that incurs the expense, not the child. What expense have you had now? Does it cost you anything to belong to the Father? No. Just as it doesn’t cost you anything to belong to a physical father, so too, it doesn’t cost you anything to belong to the parlokik Father. The Father sits here and teaches you and makes you into deities. You are not small children; you have grown up. You belong to the Father, so the Father advises you: You have to establish your own kingdom. You definitely have to become pure. There is no expense in this. When people go to bathe in the Ganges or go to pilgrimage places, they incur expense. When you had faith in the Father, did it cost you anything? When people come to you at the centres, you tell them to claim their inheritance from the unlimited Father and to remember the Father. He is the Father. The Father Himself says: If you want to claim the inheritance from Me, become pure from impure. Only then will you be able to become a master of the pure world. You also know that the Father establishes Paradise. Sensible children understand this very well. There is so much expense in other studies, but there is no expense here. The soul says: I am imperishable whereas the body will be destroyed. All the children etc. will be destroyed. Achcha, what would you then do with all the money you have accumulated? You must have some idea. Even if someone is wealthy and he doesn’t have anyone else, when he receives knowledge, he understands: In those conditions what would I do with money? Study is a source of income. Baba had told you about Abraham Lincoln, who was very poor, but would stay awake at night and study. He became so clever by studying that he became President. Does this cost anything? Nothing at all. There are many who are poor, and so the Government doesn’t take money from them for their studies; many study in that way. He became President without paying any fees too. He claimed such a high status! This Government doesn’t take fees either. Baba understands that everyone in the world is poor. It doesn’t matter how wealthy some may be, whether they are millionaires or billionaires, they too are poor and I make them wealthy. No matter how much wealth they have, you know that all of that is just for a few days and all of it is going to turn to dust. So, they are all poor. Everything depends on the study. What would the Father take from the children for the study? The Father is the Master of the World. You children know that you will become this in the future. I have come to establish this. This explanation is also in the badge. New inventions continue to be made. Shiv Baba says: The whole part is recorded in My soul. The Father comes and purifies those who have become impure and vicious. You know that you received the sovereignty of the world from the Father 5000 years ago. The main thing that the Father says is: Constantly remember Me alone. He tells you personally. He has found a chariot and so the Father has come. There would surely be one fixed chariot. This drama is predestined and cannot change. People ask: How could this jeweller become Prajapita Brahma? They understand that he was a jeweller. One is real jewellery and the other is imitation. Here, too, the Father gives you real jewellery and so what use would that jewellery be? These are the jewels of knowledge. Compared to these, that jewellery is of no value. When he found these jewels, he understood that that jewellery business was of no use. Each of these imperishable jewels of knowledge is worth hundreds of thousands. You receive so many jewels. It is these jewels of knowledge that become real. You know that the Father gives you these jewels to fill your aprons. You receive them free; it doesn’t cost you anything. There, the walls and ceilings will be studded with diamonds. What would their value be? They are valued later. There, even diamonds and jewels are nothing to you. You children should have this faith. Baba has explained that He is Rup and also Basant. Baba has a tiny form. He is also called the Ocean of Knowledge. These are the jewels of knowledge with which you will become very wealthy. However, knowledge isn’t rain of nectar or water. In a study, there is no question of water. There is no question of any expense in becoming pure. You have now received understanding. You understand that the Purifier is only the one Father. You are becoming pure with your power of yoga. You know that you will become pure and go to the pure world. So, is this right or is that right? Your intellects should work on all of these things. In the drama, there has to be the part of devotion. The Father says: You now have to become pure and go to the pure world. Those who become pure will go there. Those who are the sapling here will emerge, but none of the others will understand. They will just remain trapped in the bog. They hear this, and then, at the end they will say, “O Prabhu, Your games of how you change the old world into the new world are unique!” All of this knowledge of yours will be in the newspapers a great deal. You should especially print this picture in colour and also write: Shiv Baba is teaching us through Prajapita Brahma and making us into the masters of heaven. (Lakshmi and Narayan). How? With the pilgrimage of remembrance. By remembering Baba, your rust will be removed. Wherever you are you can show everyone this path: The Father says: Constantly remember Me alone and consider yourselves to be souls. Remind them again and again and see if their faces change at all. Do their eyes become moist? In that case, you can understand that something has sat in their intellects. First of all, you have to explain just this one thing: Five thousand years ago too, the Father said: Constantly remember Me alone. Shiv Baba had come and this is why the birthday of Shiva is celebrated. In order to make Bharat into heaven, He had explained: Constantly remember Me alone and you will become pure. Even the young daughters can sit and explain this. The unlimited Father, Shiv Baba, explains this. The word ‘Baba’ is very sweet: Baba and the inheritance. You children have to have this much faith. This is the school to change from human beings into deities. The deities are pure anyway. The Father says: Consider yourself to be a soul and remember Me: Manmanabhav! You have heard this term. If you haven’t heard it before, the Father is telling you it now. The Father says: I alone am the Purifier. Remember Me and your alloy will be removed and you will become satopradhan. This is the effort required. Everyone says of the knowledge, that it is very good, that it is first-class knowledge, but no one knows anything about ancient yoga. When you tell them about becoming pure, they still don’t understand. The Father says: All of you have become impure and tamopradhan. Now, consider yourselves to be souls and remember Me alone. Originally, you souls were with Me. You also call out to Me: O God, the Father, come! Now that I have come, follow My directions. These are the directions to become pure from impure. I, the Almighty Authority, am everpure. Now remember Me. This is called ancient Raj Yoga. You may stay in your business etc. and also look after your children etc., but just let your intellects’ yoga be removed from everyone else and connected to Me alone. This is the foremost thing. If you haven’t understood this, you haven’t understood anything. They say of knowledge: You give very good knowledge, your purity is also good, but how can we become pure? They don’t understand this at all. Deities are always pure. How did they become that? This is what you have to explain first. The Father says: Remember Me. It is only by having remembrance that your sins will be cut away and you will become deities. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to make yourself wealthy from poor, continue to take the imperishable jewels of knowledge from the Father. Each of these jewels is worth hundreds of thousands of rupees. Study this study while knowing its value. This study is your source of income. It is through this that you have to claim a high status.
  2. In order to become part of the community of Rama, keep the company of only the one Father who is completely pure. Always remain distant from bad company. Remove your intellect’s yoga from everyone and connect it to the one Father alone.
Blessing: May you experience all the powers to have emerged in you and become an embodiment of success.
Worldly people have some form of power in them – whether it is of wealth, of the intellect, of relationships or connections. Therefore, they believe that it is not a big thing. On the basis of that power, they attain success. You have all the powers: you always have the power of imperishable wealth with you, you have the power of your intellect and you also have the power of your position; you have all the powers in you. Simply experience them to have emerged in you. You will then attain success at that time with the right method and become an embodiment of success.
Slogan: Always consider your mind to be God’s property and use it for elevated tasks.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 1 MAY 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 May 2019

To Read Murli 30 April 2019 :- Click Here
01-05-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम यहाँ मनुष्य से देवता बनने की ट्यूशन लेने आये हो, कौड़ी से हीरा बन रहे हो”
प्रश्नः- तुम बच्चों को इस पढ़ाई में कोई भी खर्चा नहीं लगता है – क्यों?
उत्तर:- क्योंकि तुम्हारा बाप ही टीचर है। बाप बच्चों से खर्चा (फी) कैसे लेगा। बाप का बच्चा बनें, गोद में आये तो वर्से के हकदार बनें। तुम बच्चे बिना खर्चे कौड़ी से हीरे जैसा देवता बनते हो। भक्ति में तीर्थ करेंगे, दान-पुण्य करेंगे तो खर्चा ही खर्चा। यहाँ तो बाप बच्चों को राजाई देते हैं। सारा वर्सा मुफ्त में देते हैं। पावन बनो और वर्सा लो।

ओम् शान्ति। बच्चे समझते हैं कि हम स्टूडेन्ट हैं। बाप के स्टूडेन्ट क्या पढ़ रहे हो? हम मनुष्य से देवता बनने की ट्युशन ले रहे हैं। हम आत्मायें परमपिता परमात्मा से ट्युशन ले रहे हैं। अभी समझ गये कि जन्म बाई जन्म अपने को देह समझते थे, न कि आत्मा। वह लौकिक बाप फिर ट्युशन के लिए और जगह भेज देते हैं, सद्गति के लिए और जगह भेज देते हैं। बाप बुढ़ा हुआ तो फिर उनको वानप्रस्थ में जाने की दिल होती है। परन्तु वानप्रस्थ के अर्थ को कोई जानते नहीं हैं। वाणी से परे हम कैसे जा सकते हैं? बुद्धि में नहीं बैठता है। अभी तो हम पतित हैं। जहाँ से हम आत्मायें आई हैं, वहाँ तुम पावन थे। यहाँ आकर पार्ट बजाते-बजाते पतित बने हैं। अब फिर पावन कौन बनाये? पुकारते भी हैं हे पतित-पावन। गुरू को तो कोई पतित-पावन कह नहीं सकते। गुरू करते हैं फिर भी एक में पूरा निश्चय नहीं बैठता हैइसलिए जांच करते हैं, ऐसा कोई गुरू मिले जो हमको अपने घर अथवा वानप्रस्थ अवस्था में पहुँचाये, उसके लिए बहुत युक्तियां रचते हैं। जहाँ सुना फलाने की बहुत महिमा है, वहाँ जायेंगे। जो इस झाड़ का सैपलिंग है, उनको तुम्हारे ज्ञान का तीर लग जाता है। समझते हैं यह तो क्लीयर बात है। बरोबर तुम वानप्रस्थ अवस्था में जाते हो ना। कोई बड़ी बात नहीं है। टीचर के लिए स्कूल में पढ़ाना कोई बड़ी बात नहीं है। भक्तों को क्या चाहिए? यह भी किसको पता नहीं है। अभी तुम बच्चे इस ड्रामा के चक्र को अच्छी तरह से जान गये हो। तुम समझते हो बरोबर बाप ने ही वर्सा दिया था, जो अब दे रहे हैं फिर उसी अवस्था में आयेंगे, सो तो तुम बच्चे समझते हो। पहली मुख्य बात है पावन बनने के लिए बाप को याद करना। लौकिक बाप तो सबको याद है। पारलौकिक बाप को जानते ही नहीं हैं। अभी तुम समझते हो अपने को आत्मा समझ बाप को याद करना सहज ते सहज भी है, डिफीकल्ट ते डिफीकल्ट भी है।

आत्मा इतना छोटा सितारा है। बाप भी सितारा है। वह सम्पूर्ण पवित्र आत्मा और यह सम्पूर्ण अपवित्र। सम्पूर्ण पवित्र का संग तारे.. सो तो एक का ही संग मिल सकता है। संग चाहिए जरूर। फिर कुसंग भी मिलता है 5 विकार रूपी रावण का। उनको कहा ही जाता है रावण सम्प्रदाय। तुम अभी बन रहे हो राम सम्प्रदाय। तुम राम सम्प्रदाय बन जायेंगे फिर यह रावण सम्प्रदाय नहीं रहेगा। यह बुद्धि में ज्ञान है। राम कहेंगे भगवान् को। भगवान ही आकर रामराज्य स्थापन करते हैं अर्थात् सूर्यवंशी राज्य स्थापन करते हैं। रामराज्य भी नहीं कहेंगे, परन्तु समझाने में सहज होता है – रामराज्य और रावण राज्य। वास्तव में है सूर्यवंशी राज्य। तुम्हारा एक छोटा पुस्तक है – हीरे जैसा जीवन कैसे बनें। अब हीरे जैसा जीवन किसको कहा जाता है – मनुष्य क्या जानें, सिवाए तुम्हारे। लिखना चाहिए हीरे जैसा देवताई जीवन कैसे बनें? देवता अक्षर एड होना चाहिए। तुम फील करते हो हम हीरे जैसा जीवन यहाँ बना रहे हैं। सिवाए बाप के और कोई बना न सके। किताब है अच्छा, उसमें यह अक्षर सिर्फ एड करो। तुम आसुरी कौड़ी जैसे जन्म से देवताई हीरे जैसा जन्म सेकण्ड में प्राप्त कर सकते हो, बिगर कौड़ी खर्चा। बच्चा बाप के पास जन्म लेता है और वर्से का हकदार बनता है। बच्चे को खर्चा लगता है क्या? गोद में आया और वर्से का हकदार बना। खर्चा तो बाप करते हैं, न कि बच्चा। अभी तुमने क्या खर्चा किया है? बाप का बनने में कोई खर्चा लगता है क्या? नहीं। जैसे लौकिक बाप का बनने में खर्चा नहीं आता, वैसे पारलौकिक बाप का बनने में भी कोई खर्चा नहीं लगता। यह तो बाप बैठ पढ़ाते हैं, पढ़ाकर तुमको देवता बनाते हैं। तुम कोई छोटे बच्चे तो नहीं हो, बड़े हो। बाप का बनने से बाप राय देते हैं, तुमको अपनी राजधानी स्थापन करनी है। इसमें पवित्र जरूर बनना है। खर्चा तो कुछ भी नहीं लगता। गंगा पर जाते हैं, तीर्थों पर स्नान करने जाते हैं, खर्चा तो करेंगे ना। तुमको बाप पर निश्चय हुआ, खर्चा लगा क्या? तुम्हारे पास सेन्टर्स पर आते हैं। तुम उनको कहते हो अब बेहद के बाप का वर्सा लो, बाप को याद करो। बाप है ना। बाप खुद कहते हैं मेरा वर्सा तुमको चाहिए तो पतित से पावन बनो, तब पावन विश्व के मालिक बन सकेंगे। यह भी जानते हो बाप बैकुण्ठ स्थापन करते हैं। समझदार बच्चे अच्छी रीति समझते हैं। उस पढ़ाई में खर्चा कितना होता है, यहाँ खर्चा कुछ भी नहीं। आत्मा कहती है हम अविनाशी हैं, यह शरीर विनाश हो जायेगा। बाल बच्चे आदि सब विनाश हो जायेंगे। अच्छा, फिर इतने पैसे जो इकट्ठे किये हैं वह क्या करेंगे? ख्याल तो होगा ना। कोई साहूकार भी होंगे, समझो उनको कोई है नहीं, ज्ञान मिलता है तो समझते हैं इस हालत में पैसा क्या करेंगे? पढ़ाई तो है सोर्स ऑफ इनकम। बाबा ने बताया था एक इब्राहम लिंकन था, बहुत गरीब था। रात को जागकर पढ़ता था। पढ़-पढ़ कर इतना होशियार हो गया जो प्रेज़ीडेन्ट बन गया। खर्चा लगता है क्या? कुछ भी नहीं। बहुत हैं जो गरीब होते हैं, उनसे गवर्मेन्ट पैसे नहीं लेती है पढ़ने के। ऐसे बहुत पढ़ते हैं, तो वह भी बिगर फी प्रेज़ीडेन्ट बन गया। कितना बड़ा पद पा लिया। यह गवर्मेन्ट भी कुछ खर्चा नहीं लेती। समझती है दुनिया में सब गरीब हैं। भल कितने भी साहूकार, लखपति, करोड़पति हैं, वह भी कहेंगे गरीब हैं। हम उनको साहूकार बनाते हैं। भल धन कितना भी हो, तुम जानते हो, बाकी थोड़े दिन के लिए है। यह सब मिट्टी में मिल जायेगा। तो गरीब ठहरे ना। सारा मदार है पढ़ाई पर। बाप बच्चों से पढ़ाई का क्या लेंगे? बाप तो विश्व का मालिक है, बच्चे जानते हैं हम भविष्य में यह बनेंगे। मैं आया हूँ, यह स्थापना करने। बैज में भी यह समझानी है। नई-नई इन्वेन्शन निकलती रहती है। शिवबाबा कहते हैं हमारी जो आत्मा है उनमें सारा पार्ट नूँधा हुआ है। जो विकारी पतित बने हैं, उनको बाप आकर पावन बनाते हैं। यह तो जानते हो 5 हज़ार वर्ष पहले बाप से विश्व की बादशाही ली थी। मुख्य बात, बाप कहते हैं मामेकम् याद करो। सम्मुख कहते हैं। रथ मिल गया तो बाप भी आ गये। रथ तो जरूर एक फिक्स होगा ना। यह बना-बनाया ड्रामा है। चेंज हो नहीं सकता। कहते हैं यह जौहरी कैसे प्रजापिता ब्रह्मा बनेगा। समझते हैं यह जौहरी था। जवाहरात एक होती है इमीटेशन, एक रीयल। इसमें भी रीयल जवाहरात बाप देते हैं तो फिर वह क्या काम आयेगी। यह हैं ज्ञान रत्न। इनके सामने उस जवाहरात की कोई कीमत नहीं। जब यह रत्न मिले तो समझा यह जवाहरात का धंधा तो कोई काम का नहीं। यह अविनाशी ज्ञान रत्न एक-एक लाखों रूपयों का है। कितने तुमको रत्न मिलते हैं। यह ज्ञान रत्न ही सच्चे बन जाते हैं। तुम जानते हो बाप यह रत्न देते हैं झोली भरने के लिए। यह मुफ्त में मिलते हैं। खर्चा कुछ भी नहीं। वहाँ तो दीवारों, छतों में भी हीरे जवाहर लगे रहते हैं। उनकी वैल्यु क्या होगी। वैल्यु बाद में होती है। वहाँ तो हीरे जवाहर भी तुम्हारे लिए कुछ नहीं हैं। यह तो बच्चों को निश्चय होना चाहिए।

बाप ने समझाया है यह रूप भी है, बसन्त भी है। बाबा का छोटा-सा रूप है। उनको ज्ञान सागर कहा जाता है। यह ज्ञान रत्न हैं जिससे तुम बहुत धनवान बनेंगे। बाकी कोई अमृत वा पानी आदि की बरसात नहीं है। पढ़ाई में पानी की बात नहीं होती। पावन बनने में खर्चे की बात ही नहीं। तुमको अब विवेक मिला है। समझते हो पतित-पावन तो एक ही बाप है। तुम अपने योगबल से पावन बन रहे हो। जानते हो पावन बन पावन दुनिया में चले जायेंगे। अब राइट यह है या वह? इन सब बातों में बुद्धि चलनी चाहिए। ड्रामा में यह भक्ति का पार्ट भी होने का ही है। बाप कहते हैं अब तुमको पावन बन पावन दुनिया में चलना है। जो पावन बनेगा वह जायेगा। जो यहाँ की सैपलिंग होंगे वह निकल आयेंगे। बाकी थोड़ेही समझेंगे। वह तो दुबन में फँसे ही रहेंगे। जब सुनेंगे तब पिछाड़ी में कहेंगे – अहो प्रभू, तेरी लीला…. आप पुरानी दुनिया को नई कैसे बनाते हो। तुम्हारा यह ज्ञान अखबारों में बहुत-बहुत पड़ जायेगा। खास यह चित्र अखबार में रंगीन डाल दो। और लिख दो – शिवबाबा प्रजापिता ब्रह्मा द्वारा पढ़ाकर स्वर्ग का मालिक यह (लक्ष्मी-नारायण) बनाते हैं। कैसे? याद की यात्रा से। याद करते-करते तुम्हारी कट उतर जायेगी। तुम खड़े-खड़े सबको यह रास्ता बता सकते हो कि बाप कहते हैं मामेकम् याद करो, अपने को आत्मा समझो। घड़ी-घड़ी यह याद दिलाकर फिर देखो उनका चेहरा कुछ बदलता है? नैन पानी से भीगते हैं? तब समझो कुछ बुद्धि में बैठता है। पहले-पहले यह एक बात ही समझानी है। 5 हज़ार वर्ष पहले भी बाप ने कहा है मामेकम् याद करो। शिवबाबा आया था तब तो शिव जयन्ती मनाते हैं ना। भारत को स्वर्ग बनाने के लिए यही समझाया था कि मामेकम् याद करो तो तुम पावन बन जायेंगे। छोटी-छोटी बच्चियां भी ऐसे बैठ समझायें। बेहद का बाप शिवबाबा ऐसे समझाते हैं। ‘बाबा’ अक्षर बहुत मीठा है। बाबा और वर्सा। इतना निश्चय में बच्चों को रहना है। यह है ही मनुष्य से देवता बनने का विद्यालय। देवतायें होते ही हैं पावन। अब बाप कहते हैं अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो, मनमनाभव। अक्षर सुने हैं, न सुने हो तो बाप सुनाते हैं। बाप कहते है मैं ही पतित-पावन हूँ, मुझे याद करो तो तुम्हारी खाद निकल जाये और सतोप्रधान बन जायेंगे। मेहनत ही यह है। ज्ञान के लिए तो सब कह देते हैं, बहुत अच्छा है, फर्स्टक्लास ज्ञान है परन्तु प्राचीन योग की बात कोई जानते ही नहीं हैं। पावन होने की बात तुम सुनाते हो तो भी समझते नहीं। बाप कहते हैं तुम सब पतित तमोप्रधान बन गये हो। अब अपने को आत्मा समझ मुझे याद करो। असुल तुम आत्मायें मेरे साथ थी ना। मुझे तुम बुलाते भी हो ओ गॉड फादर आओ। अब मैं आया हूँ, तुम मेरी मत पर चलो। यह है ही पतित से पावन होने की मत। मैं हूँ सर्वशक्तिमान्, एवर पावन। अब तुम मुझे याद करो। इनको ही प्राचीन राजयोग कहा जाता है। तुम धन्धे आदि में भी भल रहो, बाल बच्चे आदि भी भल सम्भालो, सिर्फ बुद्धियोग और सबसे हटाकर मेरे साथ लगाओ। यह है सबसे मुख्य बात। यह न समझा तो गोया कुछ भी नहीं समझा। ज्ञान के लिए तो कहते हैं बहुत अच्छा ज्ञान देते हो, पवित्रता भी अच्छी है, परन्तु हम पवित्र कैसे बनें? हमेशा के लिए यह बात समझते नहीं। देवतायें हमेशा पवित्र थे ना, वह कैसे बनें? यह बात पहले-पहले समझानी है। बाप कहते हैं मुझे याद करो। याद से ही पाप मिट जायेंगे और तुम देवता बन जायेंगे। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) स्वयं को गरीब से साहूकार बनाने के लिए बाप से अविनाशी ज्ञान रत्न लेने हैं, यह एक-एक रत्न लाखों रूपयों का है, इनकी वैल्यु जानकर पढ़ाई पढ़नी है। यह पढ़ाई ही सोर्स ऑफ इनकम है, इसी से ऊंच पद पाना है।

2) राम सम्प्रदाय में आने के लिए सम्पूर्ण पवित्र जो एक बाप है, उसका ही संग करना है। कुसंग से सदा दूर रहना है। सबसे बुद्धियोग हटाकर एक बाप में लगाना है।

वरदान:- स्वयं में सर्व शक्तियों को इमर्ज रूप में अनुभव करने वाले सर्व सिद्धि स्वरूप भव
लौकिक में किसी के पास किसी बात की शक्ति होती है, चाहे धन की, बुद्धि की, सम्बन्ध-सम्पर्क की … तो उसे निश्चय रहता है कि यह क्या बड़ी बात है। वह शक्ति के आधार से सिद्धि प्राप्त कर लेते हैं। आपके पास तो सभी शक्तियां हैं, अविनाशी धन की शक्ति सदा साथ है, बुद्धि की भी शक्ति है तो पोजीशन की भी शक्ति है, सर्व शक्तियां आपमें हैं, इन्हें सिर्फ इमर्ज रूप में अनुभव करो तो समय पर विधि द्वारा सिद्धि प्राप्त कर सिद्धि स्वरूप बन जायेंगे।
स्लोगन:- मन को प्रभू की अमानत समझकर उसे सदा श्रेष्ठ कार्य में लगाओ।

TODAY MURLI 30 APRIL 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 30 April 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 29 April 2019 :- Click Here

30/04/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, only those who do good service according to shrimat receive the prize of the kingdom. You children have now become the Father’s helpers and you therefore receive a very big prize.
Question: In front of which children is the Father’s dance of knowledge performed very well?
Answer: The Father’s dance of knowledge is performed very well in front of those who are keen on knowledge and who have the intoxication of yoga. Students are numberwise, but this is a wonderful school. Some don’t have any knowledge at all. They just have love and faith and they claim a right to the inheritance on the basis of that love and faith.

Om shanti. The spiritual Father explains to the spiritual children. This is called spiritual knowledge. Only the one Father has spiritual knowledge. No human being has spiritual knowledge. It is only the One who gives you spiritual knowledge and He is called the Ocean of Knowledge. Every human being has his own individual speciality. A barrister is a barrister and a doctor is a doctor. Each one’s duty and part is separate. Every soul has received his own individual partwhich is imperishable. A soul is so tiny. It is a wonder! They sing: A wonderful star shines in the centre of the forehead. It is remembered that a body is the throne of an incorporeal soul. It is a very tiny point and is an actor with all other souls. The features of one birth cannot be the same as those of another. The part of one birth cannot be the same as that of another. No one knows what he was in the past or what he will become in the future. Only the Father sits here at the confluence age and explains this to you. In the morning, when you children sit in the pilgrimage of remembrance, the lights of souls that were extinguished become ignited. Because souls are covered with a lot of rust, the Father also does the work of the Goldsmith. He purifies impure souls who have alloy mixed in them. Alloy does become mixed in, does it not? Silver, copper, iron etc. are the names given to the ages. Golden age and silver age; you are satopradhan and then you go through the stages of sato, rajo and tamo. No human being or guru would explain these things. Only the one Satguru explains these things. They speak of the immortal throne of the Satguru. That Satguru needs a throne. Just as you souls have your own thrones, in the same way, He also has to take a throne. He says: No one in the world knows which throne I take. Those people have been saying, “Neti, neti” (neither this nor that). We don’t know. You children also understand that you didn’t know anything previously. Those who don’t understand anything are called senseless. The people of Bharat believe that they were very sensible. The fortune of the kingdom used to be theirs. They have now become senseless. The Father says: Although you have studied the scriptures etc. and everything, you now have to forget everything. Simply remember the one Father. You may live at home with your family. Followers of the sannyasis also live at home. Those who are true followers live with them. Some live somewhere and others live somewhere else. The Father sits here and explains all of these things. This is called the dance of knowledge. Yoga is silence, but there is the dance of knowledge. You have to remain in complete silence in yoga. They speak of dead silence: three minutes’ dead silence. However, no one understands the meaning of that. Sannyasis go to the forests for peace, but they cannot receive peace there. There is the story of a queen who was looking for her necklace which was around her neck. That refers to peace. The examples that the Father gives at this time then continue on the path of devotion. The Father is changing the old world at this time and making it new. He is making it satopradhan from tamopradhan. You can understand that this world is tamopradhan and impure because all are born through vice. Deities are not born through vice. That is called the completely viceless world. They speak of the viceless world but they don’t understand the meaning of that. You become worthy of worship and then worshippers. You would never say this of Baba; the Father never becomes a worshipper. People say that God is in every particle. This is why the Father says: Whenever there is such defamation of religion… Those people simply read the verses like that without understanding their meaning. They think that it is bodies that become impure and that souls don’t. The Father says: It was souls that became impure first. This is why bodies have become impure. Alloy is mixed into gold. Then the jewellery made out of it is like that. However, all of that is the path of devotion. The Father explains: There is a soul present in every body. The expression is ‘Living being’, not, ‘Living Supreme Being’, and ‘Great soul’, not ‘Great Supreme Soul’. It is each soul that adopts different bodies and plays his part. So, yoga is complete silence. This is the dance of knowledge. The dance of knowledge of the Father takes place in front of those who are keen. The Father knows how much knowledge each one has, and how much intoxication of yoga each one has. A teacherwould know this. The Father also knows who the very good virtuous children are. It is the good children who are invited everywhere. Children are numberwise. Subjects too are created numberwise, according to their efforts. This is a school or a pathshala (place of study). All are always seated numberwise in a pathshala. You can understand that so-and-so is clever and that so-and-so is of a medium standard. This is an unlimited class. You cannot seat anyone numberwise here. Baba knows when someone sitting in front of Him doesn’t have any knowledge in him, that he just has that love and faith. He neither has knowledge nor remembrance; he just has the faith that this is Baba and that he has to claim his inheritance from Him. Everyone is to receive the inheritance but the status in the kingdom is numberwise. Those who do very good service receive a very good prize. Here, they continue to give prizes to everyone. Those who give advice and beat their heads receive a prize. You now know how there can be true peace in the world. The Father has told you: Ask those people when there was peace in the world. Have you ever heard of it or seen it? What type of peace are you asking for? When did it exist? You can ask these questions because you know the answers. What would you call those who ask the questions but do not know the answers themselves? You can ask them in the newspapers: What type of peace are you looking for? Peace exists where all of us souls reside. The Father says: First, remember the land of peace and second, remember the land of happiness. Because of not having full knowledge of the world cycle, they have told so many lies etc. You children know that we are becoming doublecrowned. We were deities and have now become human beings. Deities are called deities. Because they have divine virtues, they are not called human beings. Those who have defects say: I am without virtue; I have no virtues. They simply continue to sing about the things they have heard in the scriptures. They sing praise just like parrots are taught to speak. They say: Baba, come and make all of us pure. In fact, Brahmlok cannot be called a world. You souls reside there. In fact, this is the only world where you play your parts. That is the land of silence. The Father explains: I sit here and give you children My introduction. I enter the one who doesn’t know his own births. You hear this now. I enter this one. This is the old impure world, the world of Ravan. The one who was the foremost pure one has become the last number impure one. I make him My chariot. The first one has now come here at the last (end). He has to become the first once again. It is also explained in the pictures that I carry out establishment of the original, eternal deity religion through Brahma. It is not said that I come into the deity religion. The soul of the body that I enter and sit in then becomes Narayan. There is no other Vishnu – that is the pair of Lakshmi and Narayan or Radhe and Krishna. No one knows who Vishnu is. The Father says: I tell you the secrets of the Vedas, the scriptures and all the pictures etc. The one I enter then becomes this. This is the family path. This Brahma and Saraswati then become Lakshmi and Narayan. I enter this one (Brahma) and give knowledge to Brahmins and this Brahma also hears it. He hears it first. This is the big River Brahmputra. A mela of the ocean and the Brahmputra River takes place. A big mela takes place where there is the meeting of the ocean and the river. I enter this one. This one then becomes that. It takes one second to become that (Brahma to Vishnu). He had a vision and immediately had the faith that he was to become that. “I am going to become a master of the world. So, why should I carry on with this donkeyship?” He let go of everything. When you first came to know that Baba had come and that this world was going to end, you quickly came running. Baba did not abduct you. Yes, a bhatthi had to be created. They say that Krishna abducted them. OK, if Krishna abducted them, he made them into queens. So, you become the emperors and empresses of the world through this knowledge. This is good. There is no need to be insulted. You then say: Only when you are defamed do you become Kalangidhar (one with peacock-feathered crown). It is Shiv Baba who is insulted. They defame Him so much. They say: I, the soul, am the Supreme Soul and the Supreme Soul is the soul. The Father now explains: It is not like that. I, the soul, am a Brahmin at this time. The Brahmin clan is the most elevated clan. It cannot be called a dynasty. A dynasty is where there is a kingdom. This is your clan. It is very easy. We Brahmins are going to become deities and this is why we definitely have to imbibe divine virtues. Bhog of cigarettes, tobacco, etc. is never offered to deities. At Shrinathdware they offer very rich and nourishing bhog. They make so much bhog that they can then sell it at a shop where pilgrims buy it. People have a lot of love and devotion for that. Such things do not happen in the golden age. There will not be any flies etc. there that would spoil anything. There will not be any such illnesses etc. there. Important people have a lot of cleanliness. Such things do not exist there. There are no diseases etc. there. All of these illnesses emerge in the copper age onwards. The Father comes and makes you everhealthy. You make effort to remember the Father through which you become everhealthy. You also have a long lifespan. It is only a matter of yesterday when you had a lifespan of 150 years. Now, it is a lifespan of 40 to 45 years, on average, because those people were yogis whereas these people are bhogis (those who indulge in sensual pleasures). You are Raj Yogis and Raj Rishis and this is why you are pure. However, this is the most auspicious confluence age. It is not a confluence month or year. The Father says: I come every cycle at the most auspicious confluence age. The Father continues to explain to you every day. Nevertheless, He says: Never forget one thing. If you want to become pure, then remember Me. Consider yourselves to be souls. Renounce all religions of bodies. You now have to return home. I have come to make you souls pure and clean through which you will also receive pure bodies. Here, people are born through vice. When you souls become completely pure, you will shed your old shoes and receive new ones. It is remembered of you: Salutations to the mothers. You also make the earth pure. You mothers open the gates to heaven, but no one knows this. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to ignite the light of the soul, sit in the pilgrimage of remembrance early in the morning. It is only by your having remembrance that the rust will be removed. The alloy that is mixed in the soul has to be removed with your remembrance and you have to become real gold.
  2. In order to claim the prize of a high status from the Father, together with having faith and devotion, also become knowledgeable and virtuous. Demonstrate this by doing service.
Blessing: May you be a powerful soul who makes Maya surrender on the basis of one strength and one support.
To have one strength and one support means to be constantly powerful. Where there is one strength and one support, no one can shake you. Maya becomes unconscious in front of such souls and surrenders herself. When Maya surrenders, you are always victorious. So, always have the intoxication that victory is your birthright. No one can take away this right. Let this awareness emerge in your hearts: We Pandavas and Shaktis have been victorious every cycle, we are victorious and we will always be victorious.
Slogan: With the awareness of the new world, invoke all virtues and move forward at a fast speed.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 30 APRIL 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 April 2019

To Read Murli 29 April 2019 :- Click Here
30-04-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – श्रीमत पर अच्छी सर्विस करने वालों को ही राजाई की प्राइज़ मिलती है, तुम बच्चे अभी बाप के मददगार बने हो इसलिए तुम्हें बहुत बड़ी प्राइज़ मिलती है”
प्रश्नः- बाप की ज्ञान डांस किन बच्चों के सम्मुख बहुत अच्छी होती है?
उत्तर:- जो ज्ञान के शौकीन हैं, जिन्हें योग का नशा है, उनके सामने बाप की ज्ञान डांस बहुत अच्छी होती है। नम्बरवार स्टूडेन्ट हैं। परन्तु यह वन्डरफुल स्कूल है। कइयों में जरा भी ज्ञान नहीं है, सिर्फ भावना बैठी हुई है, उस भावना के आधार पर भी वर्से के अधिकारी बन जाते हैं।

ओम् शान्ति। रूहानी बच्चों को रूहानी बाप समझाते हैं, इसको कहा जाता है रूहानी ज्ञान वा प्रीचुअल नॉलेज। प्रीचुअल नॉलेज सिर्फ एक बाप में ही होती है और कोई भी मनुष्य मात्र में रूहानी नॉलेज होती नहीं। रूहानी नॉलेज देने वाला ही एक है, जिसको ज्ञान का सागर कहा जाता है। हर एक मनुष्य में अपनी-अपनी खूबी होती है ना। बैरिस्टर, बैरिस्टर है। डॉक्टर, डॉक्टर है। हर एक की ड्युटी, पार्ट अलग-अलग है। हर एक की आत्मा को अपना-अपना पार्ट मिला हुआ है और अविनाशी पार्ट है। कितनी छोटी आत्मा है। वन्डर है ना। गाते भी हैं चमकता है भ्रकुटी के बीच…… यह भी गाया जाता है निराकार आत्मा का यह शरीर है तख्त। है बहुत छोटी-सी बिन्दी। और सब आत्मायें एक्टर्स हैं। एक जन्म के फीचर्स न मिले दूसरे से, एक जन्म का पार्ट न मिले दूसरे से। किसको भी पता नहीं है कि हम पास्ट में क्या थे फिर फ्युचर में क्या होंगे। यह बाप ही संगम पर बैठ समझाते हैं। सुबह को तुम बच्चे याद की यात्रा में बैठते हो तो उझाई हुई आत्मा प्रज्जवलित होती रहती है क्योंकि आत्मा में बहुत जंक लगी हुई है। बाप सोनार का भी काम करते हैं। पतित आत्मायें, जिनमें खाद पड़ती है, उनको प्योर बनाते हैं। खाद पड़ती तो है ना। चांदी, तांबा, लोहा आदि नाम भी ऐसे हैं। गोल्डन एज, सिलवर एज….. सतोप्रधान, सतो, रजो, तमो….. यह बातें और कोई भी मनुष्य, गुरू नहीं समझायेंगे। एक सतगुरू ही समझायेंगे। सतगुरू का अकाल तख्त कहते हैं ना। उस सतगुरू को भी तख्त चाहिए ना। जैसे तुम आत्माओं को अपना-अपना तख्त है, उनको भी तख्त लेना पड़ता है। कहते हैं मैं कौन-सा तख्त लेता हूँ – यह दुनिया में कोई को पता नहीं है। वह तो नेती-नेती कहते आये हैं। हम नहीं जानते हैं। तुम बच्चे भी समझते हो पहले हम कुछ भी नहीं जानते थे। जो कुछ भी नहीं समझते हैं, उनको बेसमझ कहा जाता है। भारतवासी समझते हैं हम बहुत समझदार थे। विश्व का राज्य-भाग्य हमारा था। अब बेसमझ बन पड़े हैं। बाप कहते हैं तुम शास्त्र आदि भल कुछ भी पढ़े हो, यह सब अब भूल जाओ। सिर्फ एक बाप को याद करो। गृहस्थ व्यवहार में भी भल रहो। सन्यासियों के फालोअर्स भी अपने-अपने घर में रहते हैं। कोई-कोई सच्चे फालोअर्स होते हैं तो उनके साथ रहते हैं। बाकी कोई कहाँ, कोई कहाँ रहते हैं। तो यह सब बातें बाप बैठ समझाते हैं। इसको कहा जाता है ज्ञान की डांस। योग तो है साइलेन्स। ज्ञान की होती है डांस। योग में तो बिल्कुल शान्त रहना होता है। डेड साइलेन्स कहते हैं ना। तीन मिनट डेड साइलेन्स। परन्तु उसका भी अर्थ कोई जानते नहीं। सन्यासी शान्ति के लिए जंगल में जाते हैं परन्तु वहाँ थोड़ेही शान्ति मिल सकती है। एक कहानी भी है रानी का हार गले में….. यह मिसाल है शान्ति के लिए। बाप इस समय जो बातें समझाते हैं वह दृष्टान्त फिर भक्ति मार्ग में चले आते हैं। बाप इस समय पुरानी दुनिया को बदल नई दुनिया बनाते हैं। तमोप्रधान से सतोप्रधान बनाते हैं। यह तो तुम समझ सकते हो। बाकी यह दुनिया ही तमोप्रधान पतित है क्योंकि सब विकारों से पैदा होते हैं। देवतायें तो विकार से पैदा नहीं होते। उनको कहा जाता है सम्पूर्ण निर्विकारी दुनिया। वाइसलेस वर्ल्ड अक्षर कहते हैं परन्तु उनका अर्थ नहीं समझते। तुम ही पूज्य सो पुजारी बने हो। बाबा के लिए कभी ऐसे नहीं कहा जाता। बाप कभी पुजारी बनते नहीं। मनुष्य तो कण-कण में परमात्मा कह देते हैं। तब बाप कहते हैं भारत में जब-जब ऐसी धर्म ग्लानि होती है….। वो लोग तो सिर्फ ऐसे ही श्लोक पढ़ लेते हैं, अर्थ कुछ भी नहीं जानते। वह समझते हैं शरीर ही पतित बनता है, आत्मा नहीं बनती है।

बाप कहते हैं पहले आत्मा पतित बनी है तब शरीर भी पतित बना है। सोने में ही खाद पड़ती है तो फिर जेवर भी ऐसा बनता है। परन्तु वह सब है भक्ति मार्ग में। बाप समझाते हैं हर एक में आत्मा विराजमान है, कहा भी जाता है जीव आत्मा। जीव परमात्मा नहीं कहा जाता। महान् आत्मा कहा जाता है, महान् परमात्मा नहीं कहा जाता। आत्मा ही भिन्न-भिन्न शरीर लेते पार्ट बजाती है। तो योग है बिल्कुल साइलेन्स। यह फिर है ज्ञान डांस। बाप की ज्ञान डांस भी उन्हों के आगे होगी जो शौकीन होंगे। बाप जानते हैं किसमें कितना ज्ञान है, कितना उनमें योग का भी नशा है। टीचर तो जानते होंगे ना। बाप भी जानते हैं कौन-कौन अच्छे गुणवान बच्चे हैं। अच्छे-अच्छे बच्चों का ही जहाँ-तहाँ बुलावा होता है। बच्चों में भी नम्बरवार हैं। प्रजा भी नम्बरवार पुरूषार्थ अनुसार बनती है। यह स्कूल अथवा पाठशाला है ना। पाठशाला में हमेशा नम्बरवार बैठते हैं। समझ सकते हैं फलाना होशियार है, यह मीडियम है। यहाँ तो यह बेहद का क्लास है, इसमें किसको नम्बरवार बिठा नहीं सकते। बाबा जानते हैं हमारे सामने यह जो बैठे हुए हैं इनमें कुछ भी ज्ञान नहीं है। सिर्फ भावना है। बाकी तो न ज्ञान है, न याद है। इतना निश्चय है – यह बाबा है, इनसे हमको वर्सा लेना है। वर्सा तो सबको मिलना है। परन्तु राजाई में तो नम्बरवार पद हैं। जो बहुत अच्छी सर्विस करते हैं उनको तो बहुत अच्छी प्राइज़ मिलती है। यहाँ सभी को प्राइज़ देते रहते हैं, जो राय देते हैं, माथा मारते हैं, उनको प्राइज़ मिल जाती है। अभी तुम जानते हो विश्व में सच्ची शान्ति कैसे हो? बाप ने कहा है उनसे पूछो तो सही कि विश्व में शान्ति कब थी? कभी सुनी वा देखी है? किस प्रकार की शान्ति मांगते हो? कब थी? तुम प्रश्न पूछ सकते हो क्योंकि तुम जानते हो जो प्रश्न पूछे और खुद न जानता हो तो उनको क्या कहेंगे? तुम अ़खबारों द्वारा पूछो कि किस प्रकार की शान्ति मांगते हो? शान्तिधाम तो है, जहाँ हम सब आत्मायें रहती हैं। बाप कहते हैं एक तो शान्तिधाम को याद करो, दूसरा सुखधाम को याद करो। सृष्टि के चक्र का पूरा ज्ञान न होने कारण कितने गपोड़े आदि लगा दिये हैं।

तुम बच्चे जानते हो हम डबल सिरताज बनते हैं। हम देवता थे, अब फिर मनुष्य बने हैं। देवताओं को देवता कहा जाता है, मनुष्य नहीं क्योंकि दैवी गुणों वाले हैं ना। जिनमें अवगुण हैं वह कहते हैं मुझ निर्गुण हारे में कोई गुण नाही। शास्त्रों में जो बातें सुनी हैं वह सिर्फ गाते रहते हैं – अचतम् केशवम…..। जैसे तोते को सिखलाया जाता है। कहते हैं बाबा आकर हम सबको पावन बनाओ। ब्रह्मलोक को वास्तव में दुनिया नहीं कहेंगे। वहाँ तुम आत्मायें रहती हो। वास्तव में पार्ट बजाने की दुनिया यही है। वह है शान्तिधाम। बाप समझाते हैं मैं बैठ तुम बच्चों को अपना परिचय देता हूँ। मैं आता ही उसमें हूँ जो अपने जन्मों को नहीं जानते। यह भी अभी सुनते हैं। मैं इनमें प्रवेश करता हूँ। पुरानी पतित दुनिया, रावण की दुनिया है। जो नम्बरवन पावन था वही फिर नम्बर लास्ट पतित बना है। उनको अपना रथ बनाता हूँ। फर्स्ट सो लास्ट में आया है। फिर फर्स्ट में जाना है। चित्र में भी समझाया है – ब्रह्मा द्वारा मैं आदि सनातन देवी-देवता धर्म की स्थापना करता हूँ। ऐसे तो नहीं कहते हैं देवी-देवता धर्म में आता हूँ। जिस शरीर में आकर बैठते हैं वही फिर जाकर नारायण बनते हैं। विष्णु कोई और नहीं है। लक्ष्मी-नारायण अथवा राधे-कृष्ण की जोड़ी कहो। विष्णु कौन है – यह भी कोई नहीं जानते हैं। बाप कहते हैं मैं तुमको वेदों-शास्त्रों, सब चित्रों आदि का राज़ समझाता हूँ। मैं जिसमें प्रवेश करता हूँ वह फिर यह बनते हैं। प्रवृत्ति मार्ग है ना। यह ब्रह्मा, सरस्वती, फिर वह (लक्ष्मी-नारायण) बनते हैं। इनमें (ब्रह्मा में) मैं प्रवेश कर ब्राह्मणों को ज्ञान देता हूँ। तो यह ब्रह्मा भी सुनते हैं। यह फर्स्ट नम्बर में सुनते हैं। यह है बड़ी नदी ब्रह्मपुत्रा। मेला भी सागर और ब्रह्मपुत्रा नदी पर लगता है। बड़ा मेला लगता है, जहाँ सागर और नदी का संगम होता है। मैं इसमें प्रवेश करता हूँ। यह वह बनते हैं। इनको वह (ब्रह्मा सो विष्णु) बनने में एक सेकण्ड लगता है। साक्षात्कार हो जाता है और झट निश्चय हो जाता है – मैं यह बनने वाला हूँ। विश्व का मालिक बनने वाला हूँ। तो यह गदाई क्या करेंगे? सब छोड़ दिया। तुमको भी पहले मालूम हुआ – बाबा आया हुआ है, यह दुनिया खत्म होने वाली है तो झट भागे। बाबा ने नहीं भगाया। हाँ, भट्ठी बननी थी। कहते हैं कृष्ण ने भगाया। अच्छा, कृष्ण ने भगाया तो पटरानी बनाया ना। तो इस ज्ञान से विश्व के महाराजा-महारानी बनते हो। यह तो अच्छा ही है। इसमें गाली खाने की दरकार नहीं। फिर कहते हैं कलंक जब लगते हैं तब ही कलंगीधर बनते हैं। कलंक लगते हैं शिवबाबा पर। कितनी ग्लानि करते हैं। कहते हैं हम आत्मा सो परमात्मा, परमात्मा सो हम आत्मा। अब बाप समझाते हैं – ऐसे है नहीं। हम आत्मा अभी सो ब्राह्मण हैं। ब्राह्मण है सबसे ऊंच कुल। इनको डिनायस्टी नहीं कहेंगे। डिनायस्टी अर्थात् जिसमें राजाई होती है। यह तुम्हारा कुल है। है बहुत सहज, हम ब्राह्मण सो देवता बनने वाले हैं इसलिए दैवीगुण जरूर धारण करने हैं। सिगरेट, बीड़ी आदि का देवताओं को भोग लगाते हो क्या? श्रीनाथ द्वारे में बहुत घी के माल ठाल बनते हैं। भोग इतना लगाते हैं जो फिर दुकान लग जाती है। यात्री जाकर लेते हैं। मनुष्यों की बहुत भावना रहती है। सतयुग में तो ऐसी बातें होती नहीं। ऐसी मक्खियाँ आदि होंगी नहीं, जो किसी चीज़ को खराब करें। ऐसी बीमारी आदि वहाँ होती नहीं। बड़े आदमियों के पास सफाई भी बहुत होती है। वहाँ तो ऐसी बातें ही नहीं होती। रोग आदि होते नहीं। यह सब बीमारियां द्वापर से निकलती हैं। बाप आकर तुमको एवर हेल्दी बनाते हैं। तुम पुरूषार्थ करते हो बाप को याद करने का, जिससे तुम एवरहेल्दी बनते हो। आयु भी बड़ी होती है। कल की बात है। 150 वर्ष आयु थी ना। अभी तो 40-45 वर्ष एवरेज है क्योंकि वह योगी थे, यह भोगी हैं।

तुम राजयोगी, राजऋषि हो इसलिए तुम पवित्र हो। परन्तु यह है पुरुषोत्तम संगमयुग। मास या वर्ष नहीं। बाप कहते हैं मैं कल्प-कल्प पुरूषोत्तम संगम युगे-युगे आता हूँ। बाप रोज़-रोज़ समझाते रहते हैं। फिर भी कहते हैं एक बात कभी नहीं भूलना – पावन बनना है तो मुझे याद करो। अपने को आत्मा समझो। देह के सभी धर्म त्याग करो। अब तुमको वापिस जाना है। मै आया हूँ तुम्हारी आत्मा को साफ करने, जिससे फिर शरीर भी पवित्र मिलेगा। यहाँ तो विकार से पैदा होते हैं। आत्मा जब सम्पूर्ण पवित्र बनती है तब तुम पुरानी जुत्ती को छोड़ते हो। फिर नई मिलेगी। तुम्हारा गायन है – वन्दे मातरम्। तुम धरती को भी पवित्र बनाती हो। तुम मातायें स्वर्ग का द्वार खोलती हो। परन्तु यह कोई नहीं जानता। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) आत्मा रूपी ज्योति को प्रज्जवलित करने के लिए सवेरे-सवेरे याद की यात्रा में बैठना है। याद से ही जंक निकलेगी। आत्मा में जो खाद पड़ी है वह याद से निकाल सच्चा सोना बनना है।

2) बाप से ऊंच पद की प्राइज़ लेने के लिए भावना के साथ-साथ ज्ञानवान और गुणवान भी बनना है। सर्विस करके दिखाना है।

वरदान:- एक बल एक भरोसे के आधार पर माया को सरेन्डर कराने वाले शक्तिशाली आत्मा भव
एक बल एक भरोसा अर्थात् सदा शक्तिशाली। जहाँ एक बल एक भरोसा है वहाँ कोई हिला नहीं सकता। उनके आगे माया मूर्छित हो जाती है, सरेन्डर हो जाती है। माया सरेन्डर हो गई तो सदा विजयी हैं ही। तो यही नशा रहे कि विजय हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है। यह अधिकार कोई छीन नहीं सकता। दिल में यह स्मृति इमर्ज रहे कि हम ही कल्प-कल्प की शक्तियां और पाण्डव विजयी बने थे, हैं और फिर बनेंगे।
स्लोगन:- नई दुनिया की स्मृति से सर्व गुणों का आह्वान करो और तीव्रगति से आगे बढ़ो।
Font Resize