Month: March 2019

BRAHMAKUMARIS Aaj Ka Purusharth 31 MARCH 2019 – आज का पुरूषार्थ

To Read 30 March Shiv Baba’s Mahavakya :-  Click Here

Om Shanti
31.03.2019

★【 आज का पुरूषार्थ】★

बाबा कहते हैं … बच्चे, love and light का पुरूषार्थ करते चले जाओ…। 
यही पुरूषार्थ आपको मंज़िल तक पहुँचाएगा।

बस alert होकर यह पुरूषार्थ करना है, अलबेले होकर नहीं…!

LOVE & LIGHT का पुरूषार्थ अर्थात् मैं एक point of light, Supreme point of light के नीचे, प्रेम स्वरूप बैठा हूँ…। 
अब आँखों को जब भी use करो तो सबकुछ light ही देखो, वो भी बहुत प्रेम के साथ…।

बच्चे, आपका पुरूषार्थ किसी आधार पर नहीं होना चाहिए, समय को भी अपना आधार नहीं बनाना क्योंकि जब आधार हिलता है, तो स्थिति भी हलचल में आती है … जिससे आत्मा भारी हो जाती है…!

देखो बच्चे, यह समय अंत का भी अंत और उसका भी अंतिम समय जा रहा है। इस समय दुनियावी रीति चलने का मार्ग सहज और ऊँचाई का लगता है और परमात्म मार्ग त्याग का, कठिनाई का और दुनियावी रीति गिरावट का लगता है…। 
इसलिए इस मार्ग में धैर्यता के साथ-साथ सहनशक्ति और सामना करने की शक्ति भी चाहिए…।

जो आत्मायें इस समय दुनिया की चकाचौंध में अर्थात् pomp and show में फँसती जा रही हैं, उन आत्माओं का पुण्य का खाता खत्म हो, पाप का खाता भरपूर हो रहा है … और दूसरी ओर आप मुट्ठी भर आत्माओं का पाप खत्म हो, पुण्य का खाता भरपूर हो रहा है … और बहुत जल्द से जल्द, उससे भी जल्द … आप अपनी कमाई से भरपूर अर्थात् लक्ष्य सम्पन्न आत्मा बन जाओगे…।

फिर आप तो परमात्मा बाप के मस्तक के मणि, नूरे रत्न, दिलतख्तनशीन सो साक्षात्कार मूर्त बन जाओगे…। 
और दूसरी तरफ दुनिया की सभी आत्मायें आपके सामने लेवता बन अर्थात भिखारी बन, इस प्यास में होंगी कि इन परमात्म तुल्य आत्माओं की एक नज़र हम पर भी पड़ जाये, तो हम भी मुक्त हो घर (शान्तिधाम) को जायें…।

बस, यह scene अब तो बाबा के सामने ही है…।

अच्छा। ओम् शान्ति।

【 Peace Of Mind TV 】
Dish TV # 1087 | Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 |
Jio TV |

TODAY MURLI 1 APRIL 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 1 April 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 31 March 2019 :- Click Here

01/04/19
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, everything you see with those eyes is to finish. Therefore, have unlimited disinterest in it all. The Father is creating the new world for you.
Question: What significance is merged in the silence of you children?
Answer: When you sit in silence, you remember the land of silence. You know that silence means to die alive. The Father, in the form of the Satguru, teaches you here how to remain silent. When you stay in silence you are burning your sins away. You have the knowledge that you now have to return home. People in other spiritual gatherings sit in silence but they have no knowledge of the land of silence.

Om shanti. Shiv Baba is speaking to the sweetest spiritual children. In the Gita, it is written: Shri Krishna speaks, but, in fact, it is Shiv Baba who speaks. Krishna cannot be called Baba. The people of Bharat know that there are two fathers: the lokik and the Parlokik. The parlokik Father is called the Supreme Father. A physical father cannot be called the Supreme Father. It isn’t a physical father who is explaining these things to you. It is the parlokik Father who is explaining to you parlokik children. First of all, you go to the land of silence, which you also call the land of nirvana, the land of liberation or the land beyond sound. The Father now says: Children, you now have to go to the land of silence. That place alone is called the Tower of SilenceWhile sitting here, you first have to sit in silence. In any spiritual gathering, they first sit in silence but they do not have knowledge of the land of silence. You children know that you souls have to shed those old bodies and return home. The body could be shed at any time and you should therefore study very well what the Father is teaching you. He is the Supreme Teacher, the Bestower of Salvation, and also the Guru. You have to have yoga with Him. That one does all three forms of service. No one person can do all three forms of service. That one Father teaches you silence. To die alive is called silence. You know that we now have to go home to the land of silence. Unless souls become pure, not one of them can return home. Everyone has to go back and this is why punishment for sinful actions is experienced at the end. Then, sometimes, the status is even destroyed. There has to be the reward and punishment for your defeat by Maya. The Father comes to enable you to conquer Maya but, because of being careless, you don’t remember the Father. Here, you only have to remember the one Father. On the path of devotion, people wander around a lot. They, too, don’t know the One to whom they have been bowing down. The Father comes and liberates you from wandering. It is explained that knowledge is the day and devotion is the night. People only stumble in the night. Knowledge is the day, that is, the golden and silver ages, whereas devotion means the night, that is, the copper and iron ages. All of this is the duration of the drama. For half the time, it is the day and for half the time, it is the night. It is the day and night of the Prajapita Brahma Kumars and Kumaris. This is an unlimited matter. The unlimited Father comes at the unlimited confluence age. This is why people speak of Shiv Ratri, the night of Shiva. People do not understand what Shiv Ratri is. Not a single person apart from you knows the importance of Shiv Ratri because this is the middle period. When the night comes to an end and the day begins, it is called the most auspicious confluence age, in between the old world and the new world. The Father comes at the confluence age of every cycle. It isn’t that He comes in every age. They even call the confluence of the golden and silver ages a confluence age. The Father says: That is a mistake. Shiv Baba says: Remember Me and your sins will be absolved. This is called the fire of yoga. All of you are Brahmins who teach yoga for them to become pure. Those brahmins sit others on the pyre of lust. There is the difference of day and night between those brahmins and you. They are a physical creation whereas you are a mouth-born creation. Everything has to be understood very well. When anyone comes, it is explained to him: Remember the unlimited Father and your sins will be absolved and you will receive your inheritance from the unlimited Father. Then, the more divine virtues you imbibe and inspire others to imbibe, so you will accordingly claim a high status. The Father comes to make you impure ones pure. So you too have to do this service. All are impure. Those gurus cannot purify anyone. Shiv Baba’s name is “The Purifier”. He comes here when all have become completely impure according to the dramaplan, it is then that the Father comes. First of all, Alpha is explained to you children. Remember Me. You say that He is the Purifier. The spiritual Father is called the Purifier. They say: “Oh God!” or “Oh Baba!” However, no one has His introduction. You, who belong to the confluence age, have now received that introduction. Those people are residents of hell. You are not residents of hell. Yes, if someone is defeated, he falls completely and everything he had earned is lost. The main thing is to become pure from impure. This is the vicious world whereas that is the viceless world, the new world, where deities rule. You children now know that, first of all, it is the deities that take the maximum births. In that too, those who are the first sun-dynasty souls come down first. You claim the inheritance for 21 generations. It is such an unlimited inheritance of purity, peace and happiness. The golden age is called the land of complete happiness. The silver age is semi because there are two degrees less. Because there are fewer degrees, the power of their light is also reduced. When the degrees of the moon decrease, there is less light. Eventually, there is just a crescent left. It doesn’t become completely nil. It is the same for you: you don’t become completely nil. This is said to be a pinch of salt in a sackful of flour. The Father sits here and explains to souls. This is a gathering of souls and the Supreme Soul. This has to be understood with the intellect. When does God come? When there are many souls, that is, many human beings, the Supreme Soul comes into this gathering. Why is there a gathering of souls and the Supreme Soul? Those gatherings are for becoming dirty. At this time, you are being changed from thorns into flowers by the Master of the Garden. How are you becoming that? With the power of remembrance. The Father is called the Almighty Authority. Just as the Father is the Almighty Authority, in the same way, Ravan is no less of an almighty authority. The Father Himself says: Maya is very strong and powerful. Some say: Baba, I do remember You, but Maya makes me forget you. You are enemies of one another. The Father comes and enables you to conquer Maya and Maya then defeats you. They have shown a battle between the deities and the devils but it isn’t like that. This is the battle. You become deities by remembering the Father. Maya causes obstacles in remembrance, not in the study. The obstacles only come in remembrance. Maya repeatedly makes you forget. By becoming body conscious, you are slapped by Maya. Very strong words are used for those who are lustful. This is the kingdom of Ravan. Here, too, you are told to become pure, but some don’t. The Father says: Children, do not indulge in vice. Do not dirty your faces. Even then, they write: Baba, Maya defeated me, that is, I have dirtied my face. There are the ugly and the beautiful. Those who are vicious are ugly and those who are viceless are beautiful. No one in the world, apart from you, understands the meaning of, “The ugly and beautiful”. Krishna is also called “Shyam-Sundar”. The Father explains the meaning of this to you. He was the number one prince of heaven. This one passes as number one in beauty. Then, by taking rebirth while coming down, he becomes ugly and so he is called “Shyam-Sundar”. The Father explains this meaning. Shiv Baba is everpure. He comes and makes you children beautiful. Those who are impure are ugly and those who are pure are beautiful. There is natural beauty there. You children have come here to become the masters of heaven. Therefore, there is the praise in the versions of God that the mothers open the gates to heaven. This is why it is said: Salutations to the mothers! When you say, “Salutations to the mothers”, it is understood that there is a father too. The Father increases the praise of the mothers. First is Lakshmi and then Narayan. Here, they have Mr. first and then Mrs. This secret of the drama has been created in this way. The Father, the Creator, first of all gives His own introduction. One is a limited physical father and the other is the unlimited parlokik Father. You remember the unlimited Father because you receive the unlimited inheritance from Him. Even while receiving a limited inheritance you remember the unlimited Father. You say, “Baba, when You come, we will break away from everyone else and connect ourselves to You alone.” Who said this? Souls. It is the soul that plays his part through these organs. Each soul takes rebirth and becomes wealthy or poor according to the type of actions he has performed. It depends on actions. Lakshmi and Narayan become the masters of the world. What did they do? Only you know this. Only you can explain this. The Father says: Have disinterest in whatever you see with those eyes. All of it is going to finish. When a new house is being built, there is disinterest in the old house. Children would say that their baba has built a new house for them and so they will go and stay there. This old house will be demolished. This is an unlimited matter. You children know that the Father has come to establish heaven. This is a dirty old world. You children are now sitting in front of Trimurti Shiva. You are becoming victorious. In fact, this Trimurti is your coat of arms. This Brahmin clan of yours is the most elevated of all; it is the topknot. A kingdom is being established. Only you Brahmins know this coat of arms. Shiv Baba is teaching us through Brahma Baba in order to make us into deities. Destruction has to take place. When the world becomes tamopradhan, natural calamities also help. They continue to use their intellects to invent so many scientific inventions. It isn’t that missiles have emerged from their stomachs, but that they have emerged through science with which they destroy the whole clan. It has been explained to you children that Shiv Baba is the Highest on High. It is Shiv Baba and the deities who should be worshipped. Brahmins cannot be worshipped because, although you souls are pure, your bodies are not. This is why you cannot be worthy of being worshipped. You are worthy of praise. When you become deities, you souls will be pure and you will also receive pure new bodies. At this time, you are worthy of praise. It is said: Salutations to the mothers! What did the army of mothers do? It was the mothers who gave knowledge by following shrimat. The mothers give everyone knowledge on the basis of shrimat. Mothers give everyone the nectar of knowledge to imbibe. Only you understand this accurately. Many stories have been written in the scriptures which they sit and relate to others. You continue to say: It is the truth, it is the truth. If you sit here and relate this knowledge to them, they will say: It is true, it is true (sat, sat). You would now no longer say that that is the truth. People have such stone intellects that they continue to say, “It is true, it is true”. It is remembered: There are those with stone intellects and those with divine intellects. To have a divine intellect means to be a lord of divinity. In Nepal, they have a picture of the Lord of Divinity. It is Lakshmi and Narayan who are the lords of the land of divinity. This is their dynasty. The main thing is to know the secret of the Creator and creation. The rishis and munis have been saying, “neti, neti” (neither this nor that) of Him. You have now come to know everything from the Father, that is, you have now become theists. Maya, Ravan, makes you into atheists. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Always have the awareness that you Brahmins are the mouth-born creation of Brahma. Your clan is the highest of all. You have to become pure and make others pure. Become a helper of the Purifier Father.
  2. Never be careless about remembrance. It is because of body consciousness that Maya causes obstacles in your remembrance. Therefore, first of all, renounce body consciousness. Destroy all your sins with the power of yoga.
Blessing: May you be a conqueror of Maya and watch the games of any fearsome form of Maya as a detached observer.
Those who welcome Maya are not afraid on seeing a fearsome form of Maya. By observing the games as a detached observer, you enjoy yourself because, externally, Maya may have the form of a lion, but she doesn’t have even as much strength as a cat. It is just that you become afraid and give her a big form, “What can I do? How will this happen?” You have to remember the lesson of: Whatever is happening is good and whatever is going to happen will be even better. Watch the games as a detached observer and you will become a conqueror of Maya.
Slogan: Those who are tolerant do not envy anyone’s feelings or nature. They listen to wasteful things with one ear and let them out of the other.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 1 APRIL 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 April 2019

To Read Murli 31 March 2019 :- Click Here
01-04-2019
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – इन आंखों से जो कुछ देखते हो – यह सब ख़त्म हो जाना है, इसलिए इससे बेहद का वैराग्य, बाप तुम्हारे लिए नई दुनिया बना रहे हैं”
प्रश्नः- तुम बच्चों की साइलेन्स में कौन-सा रहस्य समाया हुआ है?
उत्तर:- जब तुम साइलेन्स में बैठते हो तो शान्तिधाम को याद करते हो। तुम जानते हो साइलेन्स माना जीते जी मरना। यहाँ बाप तुम्हें सद्गुरू के रूप में साइलेन्स रहना सिखलाते हैं। तुम साइलेन्स में रह अपने विकर्मों को दग्ध करते हो। तुम्हें ज्ञान है कि अब घर जाना है। दूसरे सतसंगों में शान्ति में बैठते हैं लेकिन उन्हें शान्तिधाम का ज्ञान नहीं है।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे सिकीलधे रूहानी बच्चों प्रति शिवबाबा बोल रहे हैं। गीता में है श्रीकृष्ण बोले, लेकिन है शिवबाबा बोले, कृष्ण को बाबा नहीं कह सकते। भारतवासियों को मालूम है कि पिता दो होते हैं लौकिक और पारलौकिक। पारलौकिक को परमपिता कहा जाता है। लौकिक को परमपिता कह नहीं सकते। तुमको कोई लौकिक पिता नहीं समझाते हैं। पारलौकिक बाप पारलौकिक बच्चों को समझाते हैं। पहले-पहले तुम जाते हो शान्तिधाम, जिसको तुम मुक्तिधाम, निर्वाणधाम वा वानप्रस्थ भी कहते हो। अब बाप कहते हैं – बच्चे, अब जाना है शान्तिधाम। सिर्फ उनको ही कहा जाता है टॉवर ऑफ साइलेन्स। यहाँ बैठे हुए पहले-पहले शान्ति में बैठना है। कोई भी सतसंग में पहले-पहले शान्ति में बैठते हैं। परन्तु उन्हों को शान्तिधाम का ज्ञान नहीं है। बच्चे जानते हैं हम आत्माओं को इस पुराने शरीर को छोड़ घर जाना है। कोई भी समय शरीर छूट जाए इसलिए अब बाप जो पढ़ाते हैं, वह अच्छी रीति पढ़ना है। वह सुप्रीम टीचर भी है। सद्गति दाता गुरू भी है, उनसे योग लगाना है। यह एक ही तीनों सर्विस करते हैं। ऐसे और कोई एक तीनों ही सर्विस नहीं कर सकते। यह एक बाप साइलेन्स भी सिखलाते हैं। जीते जी मरने को साइलेन्स कहा जाता है। तुम जानते हो हमको अब शान्तिधाम घर में जाना है। जब तक पवित्र आत्मायें नहीं बनी हैं, तब तक वापिस घर कोई जा न सके। जाना तो सबको है इसलिए पाप कर्मों की पिछाड़ी में सजायें मिलती हैं, फिर पद भी भ्रष्ट हो जाता है। मानी और मोचरा भी खाना पड़ता है क्योंकि माया से हारते हैं। बाप आते ही हैं माया पर जीत पहनाने। परन्तु ग़फलत से बाप को याद नहीं करते। यहाँ तो एक बाप को ही याद करना है। भक्ति मार्ग में भी बहुत भटकते हैं, जिसको माथा टेकते उनको जानते नहीं। बाप आकर भटकने से छुड़ा देते हैं। समझाया जाता है ज्ञान है दिन, भक्ति है रात। रात को ही धक्का खाया जाता है। ज्ञान से दिन अर्थात् सतयुग-त्रेता। भक्ति माना रात, द्वापर-कलियुग। यह है सारी ड्रामा की ड्युरेशन। आधा समय दिन, आधा समय रात। प्रजापिता ब्रह्माकुमार-कुमारियों का दिन और रात। यह बेहद की बात है। बेहद का बाप बेहद के संगम पर आते हैं, इसलिए कहा जाता है शिवरात्रि। मनुष्य यह नहीं समझते कि शिवरात्रि किसको कहा जाता है? तुम्हारे सिवाए एक भी शिवरात्रि के महत्व को नहीं जानता क्योंकि यह है बीच। जब रात पूरी हो, दिन शुरू होता है, इसको कहा जाता है पुरूषोत्तम संगमयुग। पुरानी दुनिया और नई दुनिया का बीच। बाप आते ही हैं पुरूषोत्तम संगमयुगे-युगे। ऐसे नहीं युगे-युगे। सतयुग-त्रेता का संगम उसे भी संगमयुग कह देते हैं। बाप कहते हैं यह भूल है।

शिवबाबा कहते हैं मुझे याद करो तो पाप विनाश होंगे, इसको योग अग्नि कहा जाता है। तुम सब ब्राह्मण हो। योग सिखाते हो पवित्र होने लिए। वे ब्राह्मण लोग काम चिता पर चढ़ाते हैं। उन ब्राह्मणों और तुम ब्राह्मणों में रात-दिन का फ़र्क है। वह हैं कुख वंशावली, तुम हो मुख वंशावली। हर एक बात अच्छी रीति समझने की है। यूँ तो कोई भी आते हैं उसको समझाया जाता है, बेहद के बाप को याद करो तो विकर्म विनाश होंगे और बेहद के बाप का वर्सा मिलेगा। फिर जितना-जितना दैवीगुण धारण करेंगे और करायेंगे उतना ऊंच पद पायेंगे। बाप आते ही हैं पतितों को पावन बनाने। तो तुमको भी यह सर्विस करनी है। पतित तो सभी हैं। गुरू लोग किसको भी पावन कर न सकें। पतित-पावन नाम शिवबाबा का है। वह आते भी यहाँ हैं। जब सभी पूरे पतित बन जाते हैं ड्रामा के प्लैन अनुसार, तब बाप आते हैं। पहले-पहले तो बच्चों को अल्फ समझाते हैं। मुझे याद करो। तुम कहते हो ना वह पतित-पावन है। रूहानी बाप को कहा जाता है पतित-पावन। कहते हैं – हे भगवान् अथवा हे बाबा। परन्तु परिचय किसको भी नहीं। अभी तुम संगमवासियों को परिचय मिला है। वह हैं नर्कवासी। तुम नर्कवासी नहीं हो। हाँ, अगर कोई हार खाता है तो एकदम गिर पड़ते हैं। की कमाई चट हो जाती है। मूल बात है पतित से पावन होने की। यह है ही विशश दुनिया। वह है वाइसलेस दुनिया, नई दुनिया, जहाँ देवतायें राज्य करते हैं। अभी तुम बच्चों को मालूम पड़ा है। पहले-पहले देवता ही सबसे जास्ती जन्म लेते हैं। उसमें भी जो पहले-पहले सूर्यवंशी हैं वह पहले आते हैं, 21 पीढ़ी वर्सा पाते हैं। कितना बेहद का वर्सा है – पवित्रता-सुख-शान्ति का। सतयुग को पूरा सुखधाम कहा जाता है। त्रेता है सेमी क्योंकि दो कला कम हो जाती हैं। कला कम होने से रोशनी कम होती जाती है। चन्द्रमा की भी कला कम होने से रोशनी कम हो जाती है। आखरीन बाकी लकीर जाकर बचती है। निल नहीं होता है। तुम्हारा भी ऐसे है – निल नहीं होते। इसको कहा जाता है आटे में नमक।

बाप आत्माओं को बैठ समझाते हैं। यह है आत्माओं और परमात्मा का मेला। यह बुद्धि से काम लिया जाता है। परमात्मा कब आते हैं? जब बहुत आत्मायें अथवा बहुत मनुष्य हो जाते हैं तब परमात्मा मेले में आते हैं। आत्माओं और परमात्मा का मेला किसलिए लगता है? वह मेले तो मैले होने के लिए हैं। इस समय तुम बागवान द्वारा कांटे से फूल बन रहे हो। कैसे बनते हो? याद के बल से। बाप को कहा जाता है सर्व शक्तिमान्। जैसे बाप सर्वशक्तिमान् है वैसे रावण भी कम शक्तिमान् नहीं है। बाप खुद ही कहते हैं माया बड़ी बलवान है, दुस्तर है। कहते हैं बाबा हम आपको याद करते हैं, माया हमारी याद को भुला देती है। एक-दो के दुश्मन हुए ना। बाप आकर माया पर जीत पहनाते हैं, माया फिर हरा देती है। देवताओं और असुरों की युद्ध दिखाई है। परन्तु ऐसे कोई है नहीं। युद्ध तो यह है। तुम बाप को याद करने से देवता बनते हो। माया याद में विघ्न डालती है, पढ़ाई में विघ्न नहीं डालती। याद में ही विघ्न पड़ते हैं। घड़ी-घड़ी माया भुला देती है। देह-अभिमानी बनने से माया का थप्पड़ लग जाता है। कामी जो होते हैं उनके लिए बहुत कड़े अक्षर कहे जाते हैं। यह है ही रावण राज्य। यहाँ भी समझाया जाता है पावन बनो फिर भी बनते नहीं। बाप कहते हैं – बच्चे, विकार में मत जाओ, काला मुँह मत करो। फिर भी लिखते हैं बाबा माया ने हार खिला दी अर्थात् काला मुँह कर बैठे। गोरा और सांवरा है ना। विकारी काले और निर्विकारी गोरे होते हैं। श्याम-सुन्दर का भी अर्थ सिवाए तुम्हारे दुनिया में कोई नहीं जानते। कृष्ण को भी श्याम-सुन्दर कहते हैं। बाप उनके ही नाम का अर्थ समझाते हैं। स्वर्ग का फर्स्ट नम्बर प्रिन्स था। सुन्दरता में नम्बरवन यह पास होता है। फिर पुनर्जन्म लेते-लेते नीचे उतरते-उतरते काले बन जाते हैं। तो नाम रखा है श्याम-सुन्दर। यह अर्थ भी बाप समझाते हैं। शिवबाबा तो है ही एवर सुन्दर। वह आकर तुम बच्चों को सुन्दर बनाते हैं। पतित काले, पावन सुन्दर होते हैं। नैचुरल ब्युटी रहती है। तुम बच्चे आये हो कि हम स्वर्ग का मालिक बनें। गायन भी है शिव भगवानुवाच, मातायें स्वर्ग का द्वार खोलती हैं इसलिए वन्दे मातरम् गाया जाता है। वन्दे मातरम् तो अन्डरस्टुड पिता भी है। बाप माताओं की महिमा को बढ़ाते हैं। पहले लक्ष्मी, पीछे नारायण। यहाँ फिर पहले मिस्टर, पीछे मिसेज। ड्रामा का राज़ ऐसा बना हुआ है। बाप रचयिता पहले अपना परिचय देते हैं। एक है हद का लौकिक बाप, दूसरा है बेहद का पारलौकिक बाप। बेहद के बाप को याद करते हैं क्योंकि उनसे बेहद का वर्सा मिलता है। हद का वर्सा मिलते हुए भी बेहद के बाप को याद करते हैं। बाबा आप आयेंगे तो हम और संग तोड़ एक आपसे ही जोड़ेंगे। यह किसने कहा? आत्मा ने। आत्मा ही इन आरगन्स द्वारा पार्ट बजाती है। हर एक आत्मा जैसे-जैसे कर्म करती है ऐसे-ऐसे जन्म लेती है। साहूकार गरीब बनते हैं। कर्म हैं ना। यह लक्ष्मी-नारायण विश्व के मालिक हैं। इन्होंने क्या किया, यह तो तुम जानते हो और तुम ही समझा सकते हो।

बाप कहते हैं इन आंखों से तुम जो कुछ भी देखते हो, उससे वैराग्य। यह तो सब खत्म हो जाना है। नया मकान बनाते हैं तो फिर पुराने से वैराग्य हो जाता है। बच्चे कहेंगे बाबा ने नया मकान बनाया है, हम उसमें जायेंगे। यह पुराना मकान तो टूट-फूट जायेगा। यह है बेहद की बात। बच्चे जानते हैं बाप आया हुआ है स्वर्ग की स्थापना करने। यह पुरानी छी-छी दुनिया है।

तुम बच्चे अभी त्रिमूर्ति शिव के आगे बैठे हो। तुम विजय पहनते हो। वास्तव में तुम्हारा यह त्रिमूर्ति कोट ऑफ आर्मस है। तुम ब्राह्मणों का यह कुल सबसे ऊंचा है। चोटी है। यह राजाई स्थापन हो रही है। इस कोट ऑफ आर्मस को तुम ब्राह्मण ही जानते हो। शिवबाबा हमको ब्रह्मा द्वारा पढ़ाते हैं, देवी-देवता बनाने के लिए। विनाश तो होना ही है। दुनिया तमोप्रधान बनती है तो नैचुरल कैलेमिटीज भी मदद करती है। बुद्धि से कितनी साइन्स निकालते रहते हैं। पेट से कोई मूसल नहीं निकले हैं। यह साइन्स निकली है, जिससे सारे कुल को खत्म कर देते हैं। बच्चों को समझाया है ऊंच ते ऊंच है शिवबाबा। पूजा भी करनी चाहिए एक शिवबाबा की और देवताओं की। ब्राह्मणों की पूजा हो नहीं सकती क्योंकि तुम्हारी आत्मा भल पवित्र है लेकिन शरीर तो पवित्र नहीं है, इसलिए पूजन लायक नहीं हो सकते। महिमा लायक हो। जब फिर तुम देवता बनते हो तो आत्मा भी पवित्र, शरीर भी नया पवित्र मिलता है। इस समय तुम महिमा लायक हो। वन्दे मातरम् गाया जाता है। माताओं की सेना ने क्या किया? माताओं ने ही श्रीमत पर ज्ञान दिया है। मातायें सबको श्रीमत पर ज्ञान देती हैं। मातायें सबको ज्ञान अमृत पिलाती हैं। यथार्थ रीति तुम ही समझते हो। शास्त्रों में तो बहुत कहानियाँ लिखी हुई हैं, वह बैठकर सुनाते हैं। तुम सत-सत करते रहते हो। तुम यह बैठकर सुनाओ तो सत-सत कहेंगे। अभी तो तुम सत-सत नहीं कहेंगे। मनुष्य तो ऐसे पत्थरबुद्धि हैं जो सत-सत कहते रहते हैं। गायन भी है पत्थरबुद्धि और पारसबुद्धि। पारस बुद्धि माना पारसनाथ। नेपाल में कहते हैं पारसनाथ का चित्र है। पारसपुरी का नाथ यह लक्ष्मी-नारायण हैं। उन्हों की डिनायस्टी है। अब मूल बात है रचयिता और रचना के राज़ को जानना, जिनके लिए ऋषि-मुनि भी नेती-नेती करते गये हैं। अभी तुम बाप द्वारा सब कुछ जानते हो अर्थात् आस्तिक बनते हो। माया रावण नास्तिक बनाती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सदा स्मृति रहे कि हम ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण हैं, हमारा सबसे ऊंच कुल है। हमें पवित्र बनना और बनाना है। पतित-पावन बाप का मददगार बनना है।

2) याद में कभी ग़फलत नहीं करना है। देह-अभिमान के कारण ही माया याद में विघ्न डालती है इसलिए पहले देह-अभिमान को छोड़ना है। योग अग्नि द्वारा पाप नाश करने हैं।

वरदान:- माया के विकराल रूप के खेल को साक्षी होकर देखने वाले मायाजीत भव
माया को वेलकम करने वाले उसके विकराल रूप को देखकर घबराते नहीं। साक्षी होकर खेल देखने से मजा आता है क्योंकि माया का बाहर से शेर का रूप है लेकिन उसमें ताकत बिल्ली जितनी भी नहीं है। सिर्फ आप घबराकर उसे बड़ा बना देते हो – क्या करूं..कैसे होगा…लेकिन यही पाठ याद रखो जो हो रहा है वो अच्छा और जो होने वाला है वो और अच्छा। साक्षी होकर खेल देखो तो मायाजीत बन जायेंगे।
स्लोगन:- जो सहनशील हैं वह किसी के भाव-स्वभाव में जलते नहीं, व्यर्थ बातों को एक कान से सुन दूसरे से निकाल देते हैं।

TODAY MURLI 31 MARCH 2019 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 31 March 2019

Today Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 March 2019 :- Click Here

31/03/19
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
11/05/84

Making the laws through every step, thought and act of Brahmins.

Today, the Creator of the World is looking at His children who are creating the new world and who are the fortune of the new world. The fortune of you elevated, fortunate souls is the fortune of the world. You elevated children are supports for the new world. You are the special souls who have a right to the fortune and kingdom of the new world. Your new life renews the world. The world has to become elevated and full of happiness and peace. With the finger of this elevated determined thought of all of you, the sorrowful, iron-aged world changes into a world of happiness because you have become co-operative according to the shrimat of the Almighty Authority Father. This is why, together with the Father, the co-operation and the elevated yoga of all of you transform the world. Every step and every act of the easy yogi and Raj Yogi lives of you elevated souls at this time becomes a law for the new world. The methods used by Brahmins become the law for all time. Therefore, the children of the Bestower become bestowers, creators of fortune and law-makers. Even up to the lastbirth, devotees continue to ask for something from the images of you, who are children of the Bestower. You become such law-makers that, even now, at the time when the oath is taken, the Chief Justice makes everyone have remembrance of some form of God or the special deities before they take the oath. The power of the laws of you law-making children is still working even in the last birth. They don’t take an oath in their own name. They give importance to the Father or to you. You are the ones who are constant embodiments of blessings. They ask for different blessings from the different deities through your images. Someone is a deity of power, someone is a goddess of knowledge. You have become images that grant blessings and this is why the systems of devotion have continued from the beginning until now. Through BapDada you have constant happiness in your hearts and are embodiments of contentment and this is why, even now, in order to make themselves happy, they please the gods and goddesses believing them to be the only ones who will make them happy for all time. All of you have attained contentment, the greatest treasure of all, from the Father. That is why in order to be content, they worship the goddess of contentment. All of you are contented souls, Santoshi Maa, goddesses of contentment, are you not? All of you are content, are you not? All of you contented souls are images of contentment. You have attained success from the Father as your birthright and this is why they ask your images for a donation and blessings of success. However, because they have weak intellects and because they are weak souls, because of being beggar souls, they ask for temporary success. For instance, a beggar would never ask for 1000 rupees. He would only say: Give me a few paisas. Give me one or two rupees. In the same way, those souls who are beggars of happiness, peace and purity will only ask you for temporary success. “This task of mine should be accomplished; let there be success in this.” However, they ask for this from you souls who are embodiments of success. You children of the Father, who is the Comforter of Hearts, tell the Father, the Conqueror of your hearts, the things of your heart; you tell Him everything in your heart. Whatever you are unable to share with anyone else, you share with the Father. You become true children of the true Father. Even now, people go and share the things in their hearts in front of your images. Whatever secrets they want to hide, they will hide even from their most loving relatives, but they will not hide them from the gods and goddesses. In front of the world, they will say: I am this, I am honest, I am great. However, what would they say in front of the deities? Whatever I am, that is what I am. I am lustful, I am a cheat. Therefore, you are the fortune of such a new world. Each one of you has the fortune of the kingdom of the pure world in your fortune.

You souls are the most elevated fortune-makers, the bestowers of blessings and the lawmakers. All of you have the globe of the sovereignty of heaven in your hands. This is the butter. It is the butter of the fortune of the kingdom. Each one of you has a crown of light of the greatness of purity over your head. You are seated on the heart-throne. You have a tilak of self-sovereignty. So, do you understand who you are? You have solved the riddle of who you are, have you not? You studied this lesson on the first day, did you not? Who am I? I am not that; I am this. It is in this that all the knowledge of the Ocean of Knowledge is merged. You now know everything, do you not? Constantly have this spiritual intoxication with you. You are such elevated souls. You are so great. Your every thought, word and deed is becoming a memorial. It is becoming a law. Do everything in this elevated awareness. Do you understand? The vision of the whole world is on you souls. Whatever I do will become a law and a memorial for the world. If I come into upheaval, the world will come into upheaval. If I remain happy and content, the world will remain happy and content. All the souls who are instruments for the creation of the new world have this much responsibility. However, to the extent that the responsibility is great, it makes you that light, too, because the Almighty Authority Father is with you. Achcha.

To such constantly contented souls, to the children who are constant “master fortune-makers” and bestowers of blessings, to the souls who are constant embodiments of all attainments and are contented, to the elevated worthy-of-worship souls who, through remembrance, make their every act a memorial, love, remembrance and namaste from BapDada, the Fortune-Maker and the Bestower of Blessings.

BapDada meeting different groups of kumars:

1. All of you are elevated kumars, are you not? You are not ordinary kumars, you are elevated kumars. You are those who use the strength of your bodies and the power of your minds for an elevated task. You are not those who use your power for a destructive task. An act through the vices is a destructive act whereas a Godly task is an elevated task. So, you are elevated kumars who use all your powers for the Godly task. You don’t use any of your powers for a wasteful task, do you? You have now received the understanding as to where you have to use your powers. With this understanding, you constantly perform elevated tasks. Those who always remain engaged in such elevated tasks claim a right to elevated attainments. Have you claimed such rights? Do you experience that you are receiving elevated attainments? Or, do you still have to attain them? You experience accumulating multimillions at every step, do you not? Those who accumulate an income of multimillions in one step would be so elevated. Those who have accumulated so much wealth would be so happy. Nowadays, even millionaires and multi-millionaires have short-lived happiness, whereas yours is an ever-lasting property. Do you understand the definition of an elevated kumar? It means one who always uses every power for an elevated task. Your account of waste has ended for all time. Have you accumulated in your elevated account? Or, are both accounts open at the same time? One account has ended. Now is not the time to use both. That one has now ended for all time. If there are both at the same time, you won’t be able to accumulate as much as you want. If you haven’t wasted anything, but accumulated it, then how much have you accumulated? So, you have ended the account of waste and accumulated in the elevated account.

2. A kumar life is a powerful life. You can do whatever you want in a kumar life. You can make yourself elevated or you can bring yourself down. This kumar life is one that becomes elevated or low. In such a life, you now belong to the Father. Instead of being tied in the bondage of karmic accounts with a temporary life companion, you have found the real Companion for your life. You are so fortunate. When you came just now, did you come alone, or did you come in the combined form? (Combined.) You didn’t spend money for a ticket, did you? So, that was also a saving. In fact, if you were to bring a physical companion, you would spend money on a ticket and you would even have to carry her luggage. You would have to earn and feed her every day. This Companion doesn’t even eat; He just takes the fragrance. Your food isn’t reduced, but is in fact filled with more power. So, you have the Companion who doesn’t incur any expense or effort for you and He is the ever-lasting Companion. You also receive His complete co-operation. He doesn’t make you work hard, but gives you co-operation. When a difficult task comes in front of you, you remember Him and you receive help from Him. You have experienced this, have you not? When He is the One who gives even the devotees the fruit of their devotion, would He not give His companionship to someone who becomes His life companion? Kumars have become combined, but, in this combined form, you have become carefree emperors. You don’t have any hassle; you are carefree. You don’t have any burden of “Today, the child is ill”, or “Today, the child has not gone to school.” You are constantly free from bondage. By being tied in bondage to the One, you have become free from many bondages. Eat, drink and be merry! What else do you have to do? You prepare it yourself and eat it. You can eat whatever you want. You are independent. You have become so elevated. You are also good compared with the rest of the world. You do understand, do you not, that you have become free from the complications of the world? Let alone the soul, you are even saved from karmic accounts in terms of the body. You are safe to this extent. You don’t have any desire to have a gyani companion, do you? Do you have the desire to benefit some kumari? That is not benefit, that is harm. Why? You tie one bond and many others bondages begin from that. That one bond creates many other bondages and so you won’t receive help. It would be a burden. To look at, it might seem like help, but it is in fact a burden of many things. To the extent that you consider it to be a burden, it is a burden. So, you have been saved from many burdens. Never think about this even in your dreams. Otherwise, you will experience such a burden that you will find it difficult even to wake up. If you tie yourself in bondage having been free, there will be multi-millionfold burdens. Those poor ones were tied unknowingly, whereas you tie yourself knowingly. So, there would be an even greater burden of repentance. None of you are weak, are you? Weak ones don’t experience salvation. They neither belong here nor there. You have experienced salvation, have you not? Salvation means elevated salvation. Do you have some slight thought? Your photo is being taken. If you fluctuate even a little, your photo will be taken. To the extent that you become strong, accordingly, both your present and future become elevated.

3. All of you are powerful kumars, are you not? Are you powerful? Whatever thoughts constantly powerful souls have, whatever words they speak or actions they perform, they will all be powerful. The meaning of powerful is: those who end all waste. You are those who finish your account of waste and accumulate in your account of powerful. You never have any waste, do you? If you had a wasteful thought, spoke wasteful words or wasted time, how much would you lose in a second? At the confluence age, one second is so important. It is not one second, but one second is equal to one birth. You didn’t lose one second, you lost one birth. You are powerful souls who know the importance of time, are you not? Always have the awareness that you are the children of the powerful Father, that you are powerful souls. You are instruments for a powerful task. You will then always continue to experience the flying stage. Those who are weak are unable to fly. Powerful ones constantly continue to fly. So, which stage are you in: the flying stage or the climbing (ascending) stage? You become breathless climbing. You become tired and you also become breathless. However, in the flying stage, you reach the destination and become an embodiment of success in a second. When you are in the climbing stage, you will definitely become tired and breathless. To ask: “What should I do? How should I do this?” is to become breathless. In the flying stage you go beyond all of that. You receive touchings to do something; it is already accomplished. So, you are those who attain the destination of success in a second. This is known as being a powerful soul. The Father is pleased that all of you children are those in the flying stage. Why should you labour? The Father would want His children to remain free from labouring. Since the Father is showing you the way and He is making you doublelight, why do you come down? “What will happen? How will it happen?” This is a burden. There will always be benefit. Everything will always be elevated. Always move along in the awareness that success is your birthright.

4. Kumars have to fight to give a test-paper. When you have the thought that you have to become pure, Maya will begin to fight with you. A kumar life is an elevated life. You are great souls. Kumars now have to show wonders. The greatest wonder of all is to become equal to the Father and to make others the Father’s companions. Just as you have become the Father’s companions, in the same way, you have to make others the Father’s companions. You are servers who make the companions of Maya into the companions of the Father. Make them belong to the Father with your images that grant blessings and your good wishes and pure feelings. By using this method, you will constantly attain success. When you use an elevated method, you definitely achieve success. A kumar means one who is constantly unshakeable, not one who fluctuates. Unshakeable souls also make others unshakeable.

5. All of you are victorious kumars, are you not? When the Father is with you, you are constantly victorious. With any task you carry out with the constant support of the Father, you will experience it to take less effort and give you greater attainment. If you move away from the Father, even a little, there will be greater effort and less attainment. So the way to become free from labouring is to have the Father’s companionship at every second and in every thought. When you have this companionship, success is guaranteed. You are such companions of the Father, are you not? Let your steps be according to the Father’s orders. Let your steps be the Father’s footsteps. There is no need to think about whether you should place your foot here or not, whether this is right or wrong. If it were a new path, you would have to think about it, but since you have to place your steps in His footsteps, there is no need for you to think about anything. Always continue to move along with your steps in the Father’s footsteps and the destination will be close. The Father is making everything so easy for you. Shrimat is the footstep. Place your steps in the footsteps of shrimat and you will always stay free from having to make effort. You will receive total success as a right. Young kumars can also do a lot of service. Never cause mischief. Let your behaviour and way of speaking and interacting be such that everyone asks which school you go to. Service would then be done, would it not? Achcha.

Blessing: May you tighten the reins of shrimat with the awareness of being a master and a child and thereby control your mind.
People of the world say that the mind is like a very fast running horse, but your mind cannot run around here and there because the reins of shrimat are very strong. When your mind and intellect become engaged in looking at sidescenes, your reins become slack and so your mind causes mischief. Therefore, whenever any situation arises, or your mind causes mischief, tighten the reins of shrimat and you will reach your destination. “I am a child and a master”. With this awareness, you can become one with the right to control your mind.
Slogan: Always have the faith that whatever is happening is good and that whatever is going to happen will be even better and you will then remain unshakeable and immovable.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI TODAY 31 MARCH 2019 : AAJ KI MURLI

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 March 2019

To Read Murli 30 March 2019 :- Click Here
31-03-19
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 11-05-84 मधुबन

ब्राह्मणों के हर कदम, संकल्प, कर्म से विधान का निर्माण

विश्व रचता अपने नये विश्व के निर्माण करने वाले नये विश्व की तकदीर बच्चों को देख रहे हैं। आप श्रेष्ठ भाग्यवान बच्चों की तकदीर विश्व की तकदीर है। नये विश्व के आधार स्वरूप श्रेष्ठ बच्चे हो। नये विश्व के राज्य भाग्य के अधिकारी विशेष आत्मायें हो। आपकी नई जीवन विश्व का नव निर्माण करती है। विश्व को श्रेष्ठाचारी सुखी शान्त सम्पन्न बनाना ही है, आप सबके इस श्रेष्ठ दृढ़ संकल्प की अंगुली से कलियुगी दु:खी संसार बदल सुखी संसार बन जाता है क्योंकि सर्व शक्तिवान बाप की श्रीमत प्रमाण सहयोगी बने हो, इसलिए बाप के साथ आप सबका सहयोग, श्रेष्ठ योग विश्व परिवर्तन कर लेता है। आप श्रेष्ठ आत्माओं का इस समय का सहजयोगी, राजयोगी जीवन का हर कदम, हर कर्म नये विश्व का विधान बन जाता है। ब्राह्मणों की विधि सदा के लिए विधान बन जाती है इसलिए दाता के बच्चे दाता, विधाता और विधि विधाता बन जाते हैं। आज लास्ट जन्म तक भी आप दाता के बच्चों के चित्रों द्वारा भक्त लोग मांगते ही रहते हैं। ऐसे विधि विधाता बन जाते जो अब तक भी चीफ जस्टिस भी सभी को कसम उठाने के समय ईश्वर का या ईष्ट देव का स्मृति स्वरूप बनाए कसम उठवाते हैं। लास्ट जन्म में भी विधान में शक्ति आप विधि विधाता बच्चों की चल रही है। अपना कसम नही उठाते। बाप का, आपका महत्व रखते हैं। सदा वरदानी स्वरूप भी आप हो। भिन्न-भिन्न वरदान, भिन्न-भिन्न देवताओं और देवियों द्वारा आपके चित्रों द्वारा ही मांगते हैं। कोई शक्ति का देवता है, कोई विद्या की देवी है। वरदानी स्वरूप आप बने हो तब अभी तक भी परमपरा भक्ति की आदि से चलती रही है। सदा बापदादा द्वारा सर्व प्राप्ति स्वरूप प्रसन्नचित, प्रसन्नता स्वरूप बने हो तो अब तक भी अपने को प्रसन्न करने के लिए देवी देवताओं को प्रसन्न करते हैं कि ये ही हमें सदा के लिए प्रसन्न करेंगे। सबसे बड़े ते बड़ा खजाना सन्तुष्टता का बाप द्वारा आप सबने प्राप्त किया है इसलिए सन्तुष्टता लेने के लिए सन्तोषी देवी की पूजा करते रहते हैं। सभी सन्तुष्ट आत्मायें सन्तोषी माँ हो ना। सब सन्तोषी हो ना! आप सभी सन्तुष्ट आत्मायें सन्तोषी मूर्त हो। बापदादा द्वारा सफलता जन्म सिद्ध अधिकार रूप में प्राप्त की है इसलिए सफलता का दान, वरदान आपके चित्रों से मांगते हैं। सिर्फ अल्प बुद्धि होने के कारण, निर्बल आत्मायें होने के कारण, भिखारी आत्मायें होने के कारण अल्पकाल की सफलता ही मांगते हैं। जैसे भिखारी कभी भी यह नहीं कहेंगे कि हजार रूपया दो। इतना ही कहेंगे कुछ पैसे दे दो। एक रूपया, दो रूपया दे दो। ऐसे यह आत्मायें भी सुख-शान्ति पवित्रता की भिखारी अल्पकाल के लिए सफलता मांगेंगी। बस यह मेरा कार्य हो जाए, इसमें सफलता हो जाए। लेकिन मांगते आप सफलता स्वरूप आत्माओं से ही हैं। आप दिलाराम बाप के बच्चे दिलवाला बाप को सभी दिल का हाल सुनाते हो, दिल की बातें करते हो। जो किसी आत्मा से नहीं कर सकते वह बाप से करते हो। सच्चे बाप के सच्चे बच्चे बनते हो। अब भी आपके चित्रों के आगे सब दिल का हाल बोलते रहते हैं। जो भी अपनी कोई छिपाने वाली बात होगी, अपने स्नेही सम्बन्धी से छिपायेंगे लेकिन देवी देवताओं से नहीं छिपायेंगे। दुनिया के आगे कहेंगे मैं यह हूँ, सच्चा हूँ, महान हूँ, लेकिन देवताओं के आगे क्या कहेंगे? जो हूँ वह यही हूँ। कामी भी हूँ तो कपटी भी हूँ। तो ऐसे नये विश्व की तकदीर हो। हर एक की तकदीर में पावन विश्व का राज्य भाग्य है।

ऐसे विधाता वरदाता, विधि विधाता सर्व श्रेष्ठ आत्मायें हो। हरेक के श्रेष्ठ मत रूपी हाथों में स्वर्ग के स्वराज्य का गोला है। ये ही माखन है। राज्य भाग्य का माखन है। हरेक के सिर पर पवित्रता की महानता का, लाइट का क्राउन है। दिलतख्तनशीन हो। स्वराज्य के तिलकधारी हो। तो समझा मैं कौन? मैं कौन की पहेली हल करने आये हो ना? पहले दिन का पाठ यह पढ़ा ना। मैं कौन? मैं यह नहीं हूँ और मैं यह हूँ। इसी में ही सारा ज्ञान सागर का ज्ञान समाया हुआ है। सब जान गये हो ना। यही रूहानी नशा सदा साथ रहे। इतनी श्रेष्ठ आत्मायें हो। इतनी महान हो। हर कदम, हर संकल्प, हर कर्म यादगार बन रहा है, विधान बन रहा है, इसी श्रेष्ठ स्मृति से उठाओ। समझा। सारे विश्व की नज़र आप आत्माओं की तरफ है। जो मैं करूँगा वो विश्व के लिए विधान और यादगार बनेगा। मैं हलचल में आऊंगी तो दुनिया हलचल में आयेगी। मैं सन्तुष्टता, प्रसन्नता में रहूँगी, तो दुनिया सन्तुष्ट और प्रसन्न बनेगी। इतनी जिम्मेवारी हर विश्व नव निर्माण के निमित्त आत्माओं की है। लेकिन जितनी बड़ी है उतनी हल्की है क्योंकि सर्वशक्तिवान बाप साथ है। अच्छा!

ऐसे सदा प्रसन्नचित्त आत्माओं को, सदा मास्टर विधाता, वरदाता बच्चों को, सदा सर्व प्राप्ति स्वरूप सन्तुष्ट आत्माओं को, सदा याद द्वारा हर कर्म का यादगार बनाने वाली पूज्य महान आत्माओं को विधाता वरदाता बापदादा का यादप्यार और नमस्ते।

कुमारों के अलग-अलग ग्रुप से अव्यक्त बापदादा की मुलाकात

1. सभी श्रेष्ठ कुमार हो ना? साधारण कुमार नहीं, श्रेष्ठ कुमार। तन की शक्ति, मन की शक्ति सब श्रेष्ठ कार्य में लगाने वाले। कोई भी शक्ति विनाशी कार्य में लगाने वाले नहीं। विकारी कार्य है विनाशकारी कार्य और श्रेष्ठ कार्य है ईश्वरीय कार्य। तो सर्व शक्तियों को ईश्वरीय कार्य में लगाने वाले श्रेष्ठ कुमार। कहाँ व्यर्थ के खाते में तो कोई शक्ति नहीं लगाते हो? अभी अपनी शक्तियों को कहाँ लगाना है, यह समझ मिल गई। इसी समझ द्वारा सदा श्रेष्ठ कार्य करो। ऐसे श्रेष्ठ कार्य में सदा रहने वाले श्रेष्ठ प्राप्ति के अधिकारी बन जाते हैं। ऐसे अधिकारी हो? अनुभव करते हो कि श्रेष्ठ प्राप्ति हो रही है? या होनी है? हर कदम में पदमों की कमाई जमा हो रही है ये अनुभव है ना? जिसकी एक कदम में पदमों की कमाई जमा हो वह कितने श्रेष्ठ हुए। जिसकी इतनी जमा सम्पत्ति हो उसको कितनी खुशी होगी! आजकल के लखपति, करोड़पति को भी विनाशी खुशी रहती है, आपकी अविनाशी प्रापर्टी है। श्रेष्ठ कुमार की परिभाषा समझते हो? सदा हर शक्ति श्रेष्ठ कार्य में लगाने वाले। व्यर्थ का खाता सदा के लिए समाप्त हुआ, श्रेष्ठ खाता जमा हुआ या दोनों चलता है? एक खत्म हुआ। अभी दोनों चलाने का समय नहीं है। अभी वह सदा के लिए खत्म। दोनों होंगे तो जितना जमा होना चाहिए उतना नहीं होगा। गँवाया नहीं, जमा हुआ तो कितना जमा होगा! तो व्यर्थ खाता समाप्त हुआ, समर्थ खाता जमा हुआ।

2. कुमार जीवन शक्तिशाली जीवन है। कुमार जीवन में जो चाहे वह कर सकते हो। चाहे अपने को श्रेष्ठ बनायें, चाहे अपने को नीचे गिरायें। यह कुमार जीवन ही ऊंचा या नीचा होने वाली है। ऐसी जीवन में आप बाप के बन गये। विनाशी जीवन के साथी के कर्मबन्धन में बंधने के बजाए सच्चा जीवन का साथी ले लिया। कितने भाग्यवान हो! अभी आये तो अकेले आये या कम्बाइन्ड होकर आये? (कम्बाइन्ड) टिकेट तो नहीं खर्च की ना? तो यह भी बचत हो गई। वैसे अगर शरीर के साथी को लाते तो टिकेट खर्च करते, उनका सामान भी उठाना पड़ता और कमाकर रोज़ खिलाना भी पड़ता। यह साथी तो खाता भी नहीं सिर्फ वासना लेते हैं। रोटी कम नहीं हो जाती और ही शक्ति भर जाती है। तो बिना खर्चा, बिना मेहनत के और साथी भी अविनाशी, सहयोग भी पूरा मिलता है। मेहनत नहीं लेते और सहयोग देते हैं। कोई मुश्किल कार्य आये, याद किया और सहयोग मिला। ऐसे अनुभवी हो ना! जब भक्तों को भी भक्ति का फल देने वाले हैं तो जो जीवन का साथी बनने वाले हैं उनको साथ नहीं देंगे? कुमार कम्बाइन्ड तो बने लेकिन इस कम्बाइन्ड में बेफिकर बादशाह बन गये। कोई झंझट नहीं, बेफिकर हैं। आज बच्चा बीमार हुआ, आज बच्चा स्कूल नहीं गया… ये कोई बोझ नहीं। सदा निर्बन्धन। एक के बन्धन में बंधने से अनेक बन्धनों से छूट गये। खाओ पियो मौज करो और क्या काम। अपने हाथ से बनाया और खाया, जो चाहो वह खाओ। स्वतंत्र हो। कितने श्रेष्ठ बन गये। दुनिया के हिसाब से भी अच्छे हो। समझते हो ना कि दुनिया के झंझटों से बच गये। आत्मा की बात छोड़ो, शरीर के कर्म बन्धन के हिसाब से भी बच गये। ऐसे सेफ हो। कभी दिल तो नहीं होती कि कोई ज्ञानी साथी बना दें? कोई कुमारी का कल्याण कर दें, ऐसी दिल होती है? यह कल्याण नहीं है – अकल्याण है। क्यों? एक बन्धन बंधा और अनेक बन्धन शुरू हुए। यह एक बन्धन अनेक बन्धन पैदा करता, इसलिए मदद नहीं मिलेगी। बोझ होगा। देखने में मदद है लेकिन है अनेक बातों का बोझ। जितना बोझ कहो उतना बोझ है। तो अनेक बोझ से बच गये। कभी स्वप्न में भी नहीं सोचना। नहीं तो ऐसा बोझ अनुभव करेंगे जो उठना ही मुश्किल। स्वतंत्र रहकर बन्धन में बंधे तो पदमगुणा बोझ होगा। वह अन्जान से बिचारे बंध गये आप जानबूझकर बंधेंगे तो और पश्चाताप का बोझ होगा। कोई कच्चा तो नहीं है? कच्चे की गति नहीं होती। न यहाँ का रहता, न वहाँ का रहता। आपकी तो सद्गति हो गई है ना। सद्गति माना श्रेष्ठ गति। थोड़ा संकल्प आता हैं? फोटो निकल रहा है। अगर कुछ नीचे ऊपर किया तो फोटो आयेगा। जितने पक्के बनेंगे उतना वर्तमान और भविष्य श्रेष्ठ है।

3. सभी समर्थ कुमार हो ना! समर्थ हो? सदा समर्थ आत्मायें जो भी संकल्प करेंगी, जो भी बोल बोलेंगी, कर्म करेंगी वह समर्थ होगा। समर्थ का अर्थ ही है व्यर्थ को समाप्त करने वाले। व्यर्थ का खाता समाप्त और समर्थ का खाता सदा जमा करने वाले। कभी व्यर्थ तो नहीं चलता? व्यर्थ संकल्प या व्यर्थ बोल या व्यर्थ समय। अगर सेकण्ड भी गया तो कितना गया। संगम पर सेकण्ड कितना बड़ा है। सेकण्ड नहीं लेकिन एक सेकण्ड एक जन्म के बराबर है। एक सेकण्ड नहीं गया एक जन्म गया। ऐसे महत्व को जानने वाले समर्थ आत्मायें हो ना। सदा यह स्मृति रहे कि हम समर्थ बाप के बच्चे हैं, समर्थ आत्मायें हैं, समर्थ कार्य के निमित्त हैं। तो सदा ही उड़ती कला का अनुभव करते रहेंगे। कमजोर उड़ नहीं सकते। समर्थ सदा उड़ते रहेंगे। तो कौन सी कला वाले हो? उड़ती कला या चढ़ती कला? चढ़ने में सांस फूल जाता है। थकते भी हैं, साँस भी फूलता है। और उड़ती कला वाले सेकण्ड में मंजिल पर सफलता स्वरूप बने। चढ़ती कला है तो जरूर थकेंगे, साँस भी फूलेगा – क्या करें, कैसे करें, यह साँस फूलता है। उड़ती कला में सबसे पार हो जाते। टचिंग आती है कि यह करें, यह हुआ ही पड़ा है। तो सेकण्ड में सफलता की मंजिल को पाने वाले इसको कहा जाता है समर्थ आत्मा। बाप को खुशी होती है कि सभी उड़ती कला वाले बच्चे हैं, मेहनत क्यों करें। बाप तो कहेंगे बच्चे मेहनत से बचे रहें। जब बाप रास्ता दिखा रहा है – डबल लाइट बना रहा है तो फिर नीचे क्यों आ जाते हो? क्या होगा, कैसे होगा यह बोझ है। सदा कल्याण होगा, सदा श्रेष्ठ होगा, सदा सफलता जन्म सिद्ध अधिकार है, इस स्मृति से चलो।

4. कुमारों को पेपर देने के लिए युद्ध करनी पड़ती है। पवित्र बनना है, यह संकल्प किया तो माया युद्ध करना शुरू कर देती है। कुमार जीवन श्रेष्ठ जीवन है। महान आत्मायें हैं। अभी कुमारों को कमाल करके दिखानी है। सबसे बड़े ते बड़ी कमाल है – बाप के समान बन बाप के साथी बनाना। जैसे आप स्वयं बाप के साथी बने हो ऐसे औरों को भी साथी बनाना है। माया के साथियों को बाप के साथी बनाना है – ऐसे सेवाधारी। अपने वरदानी स्वरूप से शुभ भावना और शुभ कामना से बाप का बनाना है। इसी विधि द्वारा सदा सिद्धि को प्राप्त करना है। जहाँ श्रेष्ठ विधि है वहाँ सिद्धि जरूर है। कुमार अर्थात् सदा अचल। हलचल में आने वाले नहीं। अचल आत्मायें औरों को भी अचल बनाती हैं।

5. सभी विजयी कुमार हो ना? जहाँ बाप साथ है वहाँ सदा विजय है। सदा बाप के साथ के आधार से कोई भी कार्य करेंगे तो मेहनत कम और प्राप्ति ज्यादा अनुभव होगी। बाप से थोड़ा सा भी किनारा किया तो मेहनत ज्यादा प्राप्ति कम। तो मेहनत से छूटने का साधन है – बाप का हर सेकण्ड हर संकल्प में साथ हो। इस साथ से सफलता हुई पड़ी है। ऐसे बाप के साथी हो ना? जो बाप की आज्ञा है उस आज्ञा के प्रमाण कदम हों। बाप के कदम के पीछे कदम हो। यहाँ कदम रखें या न रखें, राइट है या रांग है। यह सोचने की भी जरूरत नहीं। नया कोई रास्ता हो तो सोचना भी पड़े। लेकिन जब कदम पर कदम रखना है तो सोचने की बात नहीं। सदा बाप के कदम पर कदम रख चलते चलो, तो मंजिल समीप ही है। बाप कितना सहज करके देते हैं – श्रीमत ही कदम है। श्रीमत के कदम पर कदम रखो तो मेहनत से सदा छूटें रहेंगे। सर्व सफलता अधिकार के रूप में होगी। छोटे कुमार भी बहुत सेवा कर सकते हैं। कभी भी मस्ती नहीं करना, आप की चलन, बोल-चाल ऐसा हो जो सब पूछें कि यह किस स्कूल में पढ़ने वाले हैं। तो सेवा हो जायेगी ना। अच्छा!

वरदान:- श्रीमत की लगाम को टाइट कर मन को वश करने वाले बालक सो मालिक भव 
दुनिया वाले कहते हैं मन घोड़ा है जो बहुत तेज भागता है, लेकिन आपका मन इधर उधर भाग नहीं सकता क्योंकि श्रीमत का लगाम मजबूत है। जब मन-बुद्धि साइडसीन को देखने में लग जाती है तो लगाम ढीला होने से मन चंचल होता है इसलिए जब भी कोई बात हो, मन चंचल हो तो श्रीमत का लगाम टाइट करो तो मंजिल पर पहुंच जायेंगे। बालक सो मालिक हूँ – इस स्मृति से अधिकारी बन मन को अपने वश में रखो।
स्लोगन:- सदा निश्चय हो कि जो हो रहा है वो भी अच्छा और जो होने वाला है वो और भी अच्छा तो अचल-अडोल रहेंगे।
Font Resize