Month: August 2018

BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 31 AUGUST 2018 – Aaj Ka Purusharth

To Read 30 August Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

Om Shanti
31.08.2018

★【 आज का पुरूषार्थ】★

बाबा ने कहा… 
जो बाप स्वयं आकर आप बच्चों को विशेष पालना दे, विशेष ज्ञान दे रहा है … जो आज तक ना ही कहीं सुना है और ना ही ऐसे परिवर्तन के बारे में भी सुना है…, जो बाप स्वयं आ आप बच्चों का कर रहा है…।

इसलिए बाप की पढ़ाई के एक-एक शब्द पर निश्चय रखो…। जिस समय, जिस संकल्प की ज़रूरत होती है, बाप उसी according आप बच्चों के संकल्प परिवर्तन कर देता है।

देखो, संकल्पों से ही दुनिया बनी और संकल्प से ही परिवर्तन होगा। बस आप उसी according अपने संकल्प रखो, जो बाप कह रहा है…।

बाप आप बच्चों के द्वारा ही सारा कार्य करवाता है, वैसे बाप क्या नहीं कर सकता…! 
आप सबके तन, मन, धन, सम्बन्ध, सम्पर्क … हर तरह की problem एक second से भी कम समय में ठीक कर सकता है।

परन्तु बाप आप बच्चों को आप-समान बना, विश्व-परिवर्तन का कार्य आप द्वारा ही करवाता है…। बस आप हर तरह की, हर बात समर्पण कर वो ही संकल्प करो, जो बाप कह रहा है।

बच्चे, अब इस तमोप्रधान दुनिया के किसी भी चीज़ में कोई सार नहीं रहा है … ना ही कहीं खुशी है और ना ही कहीं दुःख…।

बस आप तो इन सबसे न्यारे हो स्वयं के संकल्पों पर attention रख परिवर्तन के कार्य को सम्पन्न करो। सभी आपके इंतज़ार में है…।

परिवर्तन तो होना ही है। बस आप बच्चों के attention देने से झटपट हो जायेगा…, अर्थात् बिल्कुल थोड़े से ही attention से परिवर्तन हो जायेगा…।

बस न्यारेपन की स्थिति चाहिए अर्थात् सब कुछ करते भी मन-बुद्धि से न्यारे…।

अच्छा। ओम् शान्ति।

【 Peace Of Mind TV 】
Dish TV # 1087 | Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 |
Jio TV |

TODAY MURLI 1 SEPTEMBER 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 1 September 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 31 August 2018 :- Click Here

01/09/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, churn the ocean of knowledge and clarify the great difference between Krishna and the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. (Related to Krishna Janamasthmi)
Question: What conversation does Brahma Baba have with himself and what is he amazed about?
Answer: Brahma Baba talks to himself and says: I don’t know what happens to me. I forget Shiv Baba again and again. It is not that I remember the Father when He enters and that I forget Him when He leaves. I am His child; how can I forget to remember Him? Is it only when I remember Baba that He comes? Brahma Baba continues to be amazed as he talks to himself in this way.
Song: You are the Ocean of Love; we thirst for one drop. 

Om Shanti. Shiv Baba sits here and explains to His long-lost and now-found children who the God of the Gita is, because Bharat is in the darkness of ignorance at this time. This is called extreme darkness, the darkness of ignorance, and so the light of knowledge is therefore needed. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the One that human beings accept as the Ocean of Knowledge, knowledge-full. Achcha, if He is the Ocean of Knowledge, what do you receive from Him? You receive water from rivers and so people bathe in plenty of water. What is it that you receive from the Ocean of Knowledge? One drop! The Father comes and explains to the children: I am the Ocean of Knowledge. I give you one drop. What drop is that? I simply tell you that I am your Father and that you have to remember Me. Have the consciousness that you are returning to your land of peace and the land of happiness. The Ocean of Knowledge sends you to Paradise, to the land of liberation, within a second. He gives you a divine vision while you are sitting at home. Human beings give dristhi to one another when they are facing one another. Baba grants you a vision while you sit at home. By receiving just one drop, you go beyond. While sitting here, you go to Paradise. The Father now sits here and explains who the God of the Gita is. He is the Ocean of Knowledge, the incorporeal One. Human beings sing this praise of Shri Krishna. You now have to explain to them that Shri Krishna did not speak knowledge. First of all, they say that Krishna took birth from his mother’s womb in the land of Kans. Then the sound was heard that the one who was to kill Kans had come. You understand that all of those are devils. They have shown the birth of Krishna to portray the destruction of sinful souls like Kans, Jarasandha, Akasur and Bakasur. Therefore, Shri Krishna took birth. However, he was a young child, so when did he give this knowledge? They show Shri Krishna on a battlefield in the mature form; they don’t show him as a baby. In fact, after the birth of Krishna, they show the birth of the Gita. Perhaps he would have given this knowledge when he grew a little older. They also show his birth, the time he took birth, during the night. Here, you can see that Shiv Baba has entered this one. However, no one knows when He enters. Shiv Baba doesn’t become a child. He comes when this one is old and has reached the age of retirement. There is no date for when He comes. There is a time and date given for Krishna, and he takes birth through a womb. Here, Shiv Baba is the Ocean of Knowledge. He doesn’t have to become a young baby and then grow older before giving knowledge. Krishna was a human being. No human being can be called the Ocean of Knowledge. Krishna’s birth takes place in heaven. He cannot teach Raja Yoga to anyone, because he himself becomes a king. You understand that it is definitely the incorporeal Father who comes and teaches Raja Yoga. He purifies the impure and makes you into the kings of kings. There is a difference in the meaning of a limited night and day and this unlimited night and day. This is the confluence when the night of Brahma ends and the day of Brahma begins. This is the unlimited night when there is the darkness of ignorance. In the golden age, there is light. It is not a question of that night. They celebrate the birth of Krishna in the night. That is limited, whereas this is unlimited. The Father says: There is no date or time for when I come. Krishna and Rama etc. have a date and time for when they come. There are just two main ones. Now the festival of the birth of Krishna is coming and you have to explain to them that Krishna was a small child. The night and day of Brahma is remembered. Krishna exists in the day of Brahma and Brahma exists in the night of Brahma. Brahma is the one who later becomes Krishna. It cannot be said: The night of Krishna and the day of Krishna. They believe that Krishna is God and that he is present everywhere, so you have to explain to them about this: Your celebration is the birth of Shiva or it can also be called the night of Shiva (Shivratri). It is accurate to use the term Shiv Jayanti; this too has to be explained. He doesn’t enter a womb. He enters an ordinary body. There are the eight generations of Krishna. In his childhood, he is called Mohan (the one who attracts others) or Krishna. Just as there is the Prince of Wales, in the same way, there is the first throne of Indraprasth and he is the Prince of Indraprasth. Then, from a prince , he becomes a king. The name Krishna is not used; he is remembered as an emperor. Shri Lakshmi and Shri Narayan are known as the emperor and empress. The word ‘king’ is used in English. In reality it should be emperor and empress. It is not that Narayan gave knowledge. When Krishna marries, he becomes Shri Narayan. The name of Shiva, the Ocean of Knowledge, doesn’t change. He has only one name. His chariot is big. He begins to give knowledge as soon as He comes. This Brahma didn’t know anything. It is understood that Shiva has entered this one and is granting visions and giving knowledge. The significance of the visions and the knowledge was not understood initially. Baba shares his experience. In the beginning, when he went to Benaras, he used to draw circles etc. on a wall, but didn’t understand what they were. It was as if this one had become like a baby ; he had taken a new birth. Some say: Baba, I am a child of eight months or ten months. I too had become like a child. Initially, I did not understand anything. The aspects of knowledge were something else. I used to sit and write all sorts of things. Now, many years have passed while studying all of these things. I can now understand the things that the Father is teaching. You children have to explain about the festival of Krishna Jayanti. The pictures are absolutely accurate. There is also the picture of Brahma in the picture of the tree. It is this one who eats the butter; it is the butter of the sovereignty of the world. Krishna comes with his reward of the golden age. Shri Krishna is the first prince of the golden age and his children will also become princes. That is his reward which he didn’t have in the iron age. So, who created this reward of the sun dynasty? It has been remembered that when the Sun of Knowledge rises, the darkness of ignorance is dispelled. Shiv Baba is the Ocean of Knowledge. He has come and is establishing heaven. You have to explain the contrast. How could Krishna have spoken the Gita? He was a small child; he entered a womb. It has been shown that Kans and Jarasandha etc. existed at the same time as him. In fact, devils cannot exist there. They show a war between devils and deities. Surely, devils must have existed at the end of the iron age and deities in the beginning of the golden age. There was no war between the two. There is definitely the Mahabharat War, but deities cannot exist here at this time. It is devils that fight with devils. The kingdom of the Muslims has also been shown. There are definitely the Yadavas, the Kauravas and the Pandavas. The Pandavas are non-violent ones with the power of yoga. Rivers of blood continue to flow here because there is a great deal of enmity. Rivers of blood flowed very forcefully at the time of partition. It was a war between brother and brother. They are brothers after all. They are the ones who battle; how else would there be the river of blood? They kill one another. They use the sword and then the river of blood flows. This is the period of the confluence. After the rivers of blood, rivers of ghee will flow. Krishna is a young prince and yet they have defamed him. He cannot be called the Ocean of Knowledge. The praise of the deities has been sung as: Those who are completely virtuous, full of all divine qualities, the ones who follow the highest code of conduct. This praise cannot be given to a child. The praise is always given to the kings and queens. They have shown Lakshmi and Narayan in the golden age, whereas Krishna has been shown in the copper age. This is such a huge mistake! No one can even tell you anything of Lakshmi and Narayan’s childhood, although they do mention a little about Rama and Sita. They also relate wrong things about Krishna. At least they should tell a story that is correct! The praise of Lakshmi and Narayan is: Completely virtuous, those who follow the highest code of conduct and the highest religion of non-violence. Achcha, who gave them the kingdom? People become confused when reference is made to human beings. By hearing the names of Lakshmi and Narayan, your intellects are drawn to the golden age. This is the story of changing from an ordinary man into Narayan. It is not the story of becoming Krishna. This is called the story of becoming true Narayan. It is not called the story of becoming the true Krishna. The true Baba, the Ocean of Knowledge, tells you this story. It is a story of the beginning, the middle and the end of the whole world. The story of Shri Lakshmi and Narayan is also included in it. The story of their 84 births is shown. The boat goes across by hearing the story of Shri Narayan. The Father sits here and tells you children the true story of changing from an ordinary man into Narayan. Shri Narayan is an adult. Who was he before his marriage? Were they called Lakshmi and Narayan or were they called something else? They are Radhe and Krishna and their names are changed upon their marriage to Lakshmi and Narayan. Baba gives you essays to write about this so you have to churn the ocean of knowledge. This is the foremost mistake. You understand that it is now the iron age. There are the Yadavas, the Kauravas and the Pandavas. It is now the period of the iron age. The golden age will definitely come after the iron age. The Father says: I have come here as your Guide to liberate you from the claws of Ravan and to take you back. I will only take souls back. It has been remembered that souls and the Supreme Soul were separated for a long period of time. It was not that Shri Krishna was separated for a long period of time. This praise is of that incorporeal One: A beautiful meeting takes place when you find the Satguru, the Agent. Here, all are gurus. It has been remembered that the Satguru, the Agent, is found. You find the true Supreme Father, the Supreme Soul, in the form of an agent. A deal is made through an agent. This is also an engagement. Souls are separate from the Supreme Soul. The Supreme Soul is incorporeal. He comes and enters this one and enables you to become engaged to Him. He Himself becomes the Agent. He says: Remember Me, the Supreme Father, the Supreme Soul. He sits in this body and says: Constantly remember Me alone. I will liberate you from Maya, Ravan and take you back with Me. I will give you the kingdom and then go and sit in the land of nirvana. Krishna cannot say this. Here, it is souls and the Supreme Soul. Krishna is a small child. There are many things that have to be explained. Therefore, Baba has explained how He entered this one. I then began to understand that I am to become a king of kings. I had a vision of Vishnu and I experienced a great deal of happiness in my heart. Then I had a vision of destruction. However, I didn’t understand that much. It is now that I understand that Baba gave me a vision of how I will change from an ordinary man into Narayan, but I didn’t have that much understanding then. Similarly, Baba told you last night: I don’t know what happens when I forget to remember Shiv Baba. It is not that when Baba enters I think that Baba has come and there is then remembrance, and that when Baba leaves I forget to remember Him. When pointsof knowledge are being spoken, I feel that the unlimited Father comes and speaks these aspects. However, I myself forget Him. Is it that Baba comes because of my remembrance? Can it be said that I remember Baba again and again? It is good that He comes in this one, because everyone can experience benefit. Remembrance is the main thing. Whether the Father comes or not, it is essential to remember Him. Baba has explained that it is after the birth of the Gita that there is the birth of Krishna. First there is Shiv Jayanti, then the birth of the Gita and then the birth of Krishna. Shiva is mature, and so He speaks the Gita as soon as He comes. He is not young. You have to churn the ocean of knowledge about how you can explain these things. First think: Who is the One called Shiva? Who is the One whose night is celebrated? The golden age is the kingdom of Shri Krishna. It is only the Father who can give you knowledge for changing from an ordinary man into Narayan. He is knowledge-full. No one else can be called knowledge-fullGod is knowledge-full, the Creator, the Seed. He is the One who gives the knowledge of the drama. No one knows when the drama begins or when it ends. No one can explain how the history and geography of the world repeat from the beginning of the golden age to the end of the iron age. Only those who are trikaldarshi can give this knowledge. No one except the One is trikaldarshi. Only He is the One who makes you trikaldarshi. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Become master knowledge-full and trikaldarshi and clarify the great difference between Shri Krishna and God Shiva. Do the service of removing human beings from immense darkness.
  2. Churn the topics that Baba gives you to write essays on and think about how you can explain to others.
Blessing: May you be a great donor who donates happiness while constantly remaining happy by being filled with the treasure of happiness.
At the confluence age, BapDada has given you the greatest treasure of happiness. Every day at amrit vela, think of a point of happiness and maintain that happiness throughout the day. While staying in happiness in this way, continue to donate happiness to others. This is the greatest donation because while everyone in the world has all facilities, they do not have true, imperishable happiness inside. You each have a treasure store of happiness and so you have to continue to donate; this is the greatest gift of all.
Slogan: The supreme task of great souls is to uplift others, to have mercy and to forgive.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 1 SEPTEMBER 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 September 2018

To Read Murli 31 August 2018 :- Click Here
01-09-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे-विचार सागर मंथन कर श्रीकृष्ण और परमात्मा शिव के महान् अन्तर को स्पष्ट करो”
प्रश्नः- ब्रह्मा बाबा अपने आपसे क्या बातें करते हैं? उन्हें वन्डर क्या लगता है?
उत्तर:- ब्रह्मा बाबा अपने आपसे बातें करते-पता नहीं क्या होता जो शिवबाबा घड़ी-घड़ी भूल जाता है। ऐसे तो नहीं, बाप जब प्रवेश करते हैं तब याद रहती है, बाबा चले जाते हैं तो याद भूल जाती है। परन्तु मैं तो उनका बच्चा हूँ, याद भूल क्यों जाती? क्या मेरी याद से ही बाबा आते हैं? ऐसे-ऐसे बाबा अपने आपसे बातें करके वन्डर खाते रहते हैं।
गीत:- तू प्यार का सागर है…….. 

ओम् शान्ति। शिवबाबा बैठ करके अपने सिकीलधे बच्चों को समझाते हैं कि गीता का भगवान् कौन है? क्योंकि इस समय भारत में है अज्ञान अन्धियारा। इसको कहा जाता है घोर अन्धियारा, अज्ञान अन्धियारा। फिर सोझरा चाहिए ज्ञान का। परमपिता परमात्मा को ही मनुष्य मानते हैं कि वह ज्ञान का सागर है, नॉलेजफुल है। अच्छा, वह ज्ञान का सागर है, उनसे क्या मिलता है? नदियों से पानी मिलता है तो भर-भर कर स्नान भी करते हैं। तुमको ज्ञान सागर से क्या मिलता है? एक बूँद। बाप आकर बच्चों को समझाते हैं-मैं ज्ञान का सागर हूँ, तुमको बूँद देता हूँ। कौन सी बूँद? सिर्फ कहता हूँ-मैं तुम्हारा बाप हूँ। तुम मुझे याद करो। समझो कि हम अपने शान्तिधाम-सुखधाम जाते हैं।

ज्ञान सागर एक सेकेण्ड में जीवनमुक्ति वैकुण्ठ में भेज देते हैं। घर बैठे भी दिव्य दृष्टि दे देते हैं। मनुष्य तो एक-दो को सामने दृष्टि देते हैं। बाबा घर बैठे साक्षात्कार करा लेते हैं। एक बूँद मिलने से तुम यहाँ से चले जाते हो। यहाँ बैठे-बैठे तुम वैकुण्ठ मे चले जाते हो। अब बाप बैठ समझाते हैं। गीता का भगवान् कौन है? वह है ज्ञान का सागर निराकार। मनुष्य तो गाते हैं श्रीकृष्ण के लिए। अब तुमको समझाना है श्रीकृष्ण ने ज्ञान नहीं सुनाया। पहले-पहले तो कहते हैं कृष्ण ने माता के गर्भ से जन्म लिया। कंसपुरी थी। फिर आवाज हुआ-हे कंस, तुमको मारने वाला आया है। यह तो जानते हो सब असुर हैं। कंस, जरासन्धी, अकासुर, बकासुर पाप आत्मायें सबका विनाश करने लिए उनका जन्म दिखाते हैं। तो श्रीकृष्ण ने जन्म लिया। वह तो छोटा था। फिर ज्ञान कब दिया? वह तो युद्ध के मैदान में कृष्ण का बड़ा रूप दिखाते हैं, छोटा तो नहीं दिखाते हैं। वैसे ही कृष्ण जयन्ती के बाद फिर गीता जयन्ती दिखाते हैं। कुछ समय के बाद जब वह बड़ा हुआ तब ज्ञान दिया होगा। यह भी दिखाते हैं-जन्म लिया है। टाइम भी दिखाते हैं-रात्रि के समय। यहाँ तुम देखते हो शिवबाबा की पधरामनी हुई है। कोई को पता नहीं कि कब प्रवेशता हुई। शिवबाबा तो बच्चा बना नहीं है। वह तो बुढ़े वानप्रस्थ अवस्था में आया है। कब आया-उसकी डेट है नहीं। कृष्ण की तो तिथि-तारीख है और वह गर्भ से पैदा हुआ है। यहाँ शिवबाबा तो ज्ञान का सागर है। उनको छोटा होना नहीं है, जो फिर बड़ा होकर ज्ञान सुनाये। कृष्ण तो मनुष्य था। मनुष्य को ज्ञान सागर नहीं कहा जाता है। उनका तो जन्म ही स्वर्ग में हुआ। वह किसको राजयोग सिखला न सके, क्योंकि खुद ही राजा है। बरोबर तुम जानते हो निराकार बाप ही आकर राजयोग सिखलाते हैं। पतितों को पावन, राजाओं का राजा बनाते हैं।

उस हद के रात और दिन तथा इस बेहद के रात और दिन के अर्थ में भी फ़र्क है। यह है संगम जबकि ब्रह्मा की रात पूरी हो ब्रह्मा का दिन शुरू होता है। यह है बेहद की रात्रि, अज्ञान अन्धियारा। सतयुग में है सोझरा। उस रात की बात नहीं। वह तो कृष्ण का जन्म रात में मनाते हैं। वह हुई हद की बात, यह है बेहद की। बाप कहते हैं मैं आता हूँ, मेरी कोई तिथि-तारीख नहीं। कृष्ण-राम आदि की तो तिथि-तारीख है। मुख्य हैं ही दो।

अभी कृष्ण जयन्ती आती है ना। उन्हों को समझाना है कृष्ण तो छोटा बच्चा है। रात और दिन तो ब्रह्मा का गाया जाता है। ब्रह्मा का दिन कृष्ण है और ब्रह्मा की रात ब्रह्मा है। ब्रह्मा ही फिर सो कृष्ण बनता है। कृष्ण की रात वा कृष्ण का दिन नहीं कहेंगे। वह तो समझते हैं कृष्ण भगवान् है, वह हाजिराहजूर है। तो इस पर भी समझाना है। तुम्हारी है शिवजयन्ती वा शिव रात्रि कहो। शिव जयन्ती कहना ठीक है। यह भी समझाना होता है। वह गर्भ में तो आते नहीं हैं। साधारण तन में आते हैं। कृष्ण की तो 8 पीढ़ी चलती हैं। छोटेपन में उनको मोहन अथवा कृष्ण कहते हैं। जैसे प्रिन्स ऑफ वेल्स है वैसे पहले-पहले गद्दी इन्द्रप्रस्थ की-प्रिन्स आफ इन्द्रप्रस्थ। फिर वह प्रिन्स से किंग होगा। कृष्ण अक्षर नहीं, महाराजा नाम ही गाया जाता है। श्री लक्ष्मी-नारायण को महाराजा-महारानी कहते हैं। किंग अक्षर अंग्रेजों का है, असुल नाम महाराजा-महारानी है। ऐसे नहीं कि नारायण ने ज्ञान दिया था। स्वयंवर बाद कृष्ण फिर श्री नारायण बनता है। अब इस ज्ञान सागर शिव का नाम तो बदलता नहीं। एक ही नाम है। उनका वह रथ तो बड़ा है। आने से ही ज्ञान सुनाना शुरू कर दिया है। यह (ब्रह्मा) तो कुछ नहीं जानते थे। समझ में आता है इनमें आया हुआ है, जो साक्षात्कार कराते हैं। नॉलेज दे रहे हैं। यह साक्षात्कार का राज़ अथवा यह नॉलेज शुरू में पहले समझ में नहीं आती थी। बाबा अपना अनुभव बतलाते हैं-शुरू में बनारस गये तो दीवारों पर गोले आदि निकालते रहते थे। समझ में कुछ भी नहीं आता था-यह क्या है? क्योंकि यह तो जैसे बेबी बन गये। नया जन्म लिया ना। कहते हैं ना-बाबा, हम 8-10 मास का आपका बच्चा हूँ तो मैं भी बच्चा हो गया। तो पहले कुछ समझ में नहीं आता था। वह ज्ञान की बातें ही और थी। अगड़म-बगड़म क्या-क्या बैठ निकालते थे। अभी तो सीखते-सीखते कितने वर्ष हो गये हैं! अभी बाप की बातें समझ में आती हैं। बच्चों को कृष्ण जयन्ती पर समझाना है। चित्र तो बरोबर हैं। झाड़ में ब्रह्मा का चित्र भी है। मक्खन तो यह हप कर लेते हैं। विश्व के मालिकपने का माखन है। कृष्ण सतयुग की प्रालब्ध लेकर के आया है। श्रीकृष्ण है सतयुग का पहला प्रिन्स फिर उनके बच्चे भी प्रिन्स बनेंगे। यह है उनकी प्रालब्ध जो कलियुग में तो थी नहीं। तो यह सूर्यवंशी की प्रालब्ध किसने बनाई? गाया जाता है-ज्ञान सूर्य प्रगटा, अज्ञान अन्धेर विनाश। ज्ञान सागर तो शिवबाबा है। वह आये हैं और स्वर्ग की स्थापना कर रहे हैं। कान्ट्रास्ट बतलाना है। कृष्ण कैसे गीता सुना सकता, वह तो बच्चा है। गर्भ में आया है। दिखाते हैं-वहाँ कंस, जरासन्धी आदि थे। परन्तु वहाँ असुर तो हो न सकें। असुरों और देवताओं की लड़ाई दिखाते हैं। तो जरूर असुर कलियुग अन्त में होंगे, देवतायें सतयुग आदि में होंगे। दोनों की लड़ाई तो लगी नहीं है। महाभारत लड़ाई बरोबर है। देवतायें तो यहाँ हो न सकें। असुरों की असुरों में लड़ाई चली है। मुसलमानों का राज्य भी देखते हो। बरोबर यादव, कौरव, पाण्डव भी हैं।

पाण्डव हैं नानवायोलेन्स, योगबल वाले। यहाँ तो रक्त की नदियां बहती रहती हैं। दुश्मनी तो है ना। पार्टीशन में रक्त की नदी अच्छी ही बही थी ना। भाई-भाई की युद्ध हुई, भाई-भाई तो हैं ना। लड़ाई उन्हों की लगती है, नहीं तो रक्त की नदी कैसे बहे? यह तो एक-दो का खून करते हैं। तलवारें चलाते हैं तब रक्त की नदी बहती है। और है यह संगम का समय। रक्त की नदियों बाद फिर घी की नदियां बहनी है। कृष्ण तो छोटा प्रिन्स है। फिर उनकी भी बैठ ग्लानी की है। उनको तो ज्ञान सागर कह नहीं सकते। देवताओं की महिमा तो गाई जाती है-सर्वगुण सम्पन्न, मर्यादा पुरुषोत्तम…… यह महिमा बच्चे की नहीं हो सकती। महिमा हमेशा राजा-रानी की चलती है। वह फिर लक्ष्मी-नारायण को सतयुग में और कृष्ण को द्वापर में ले गये हैं। कितनी बड़ी भूल कर दी है! लक्ष्मी-नारायण की छोटेपन की कहानी भी कोई बता नहीं सकते। राम-सीता की भी कुछ न कुछ बतलाते हैं। कृष्ण की भी उल्टी-सुल्टी बात बतलाते हैं। कुछ तो सुल्टी कहानी भी बताओ। लक्ष्मी-नारायण की तो महिमा गाई जाती है-सर्वगुण सम्पन्न, मर्यादा पुरुषोत्तम, अहिंसा परमो धर्म…..। अच्छा, उन्हों को राज्य किसने दिया? मनुष्य का नाम सुन मूँझ जाते हैं। लक्ष्मी-नारायण कहने से तुम चले जाते हो सतयुग में। यह है नर से नारायण बनने की कथा। कृष्ण बनने की कथा नहीं कहते, इसको सत्य नारायण की कथा कहेंगे। सत्य कृष्ण की कथा नहीं कहा जाता। सच्चा बाबा ज्ञान सागर यह कथा सुनाते हैं। सारे सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त की कथा है। उसमें श्री लक्ष्मी-नारायण की कथा भी आ जाती है। उनके 84 जन्मों की कथा दिखलाते हैं। श्री नारायण की कथा से बेड़ा पार हुआ। बरोबर बाप बैठ बच्चों को नर से नारायण बनने की सच्ची कथा सुनाते हैं। श्री नारायण तो बड़ा है ना। स्वयंवर से पहले कौन थे? क्या लक्ष्मी-नारायण ही नाम था या दूसरा और कोई नाम था? हैं राधे-कृष्ण, जिनका स्वयंवर बाद लक्ष्मी-नारायण नाम रखा है। बाबा एसे (निबन्ध) देते हैं फिर तुमको विचार सागर मंथन करना चाहिए। पहले नम्बर की भूल है यह। तुम जानते हो अभी है कलियुग। यादव, कौरव, पाण्डव भी हैं। कलियुग का समय भी है। कलियुग के बाद जरूर सतयुग होगा। बाप कहते हैं-मैं गाइड बन आया हूँ, रावण के चम्बे से छुड़ाए वापिस ले जाने। आत्माओं को ही ले जाऊंगा।

गाया जाता है आत्मा-परमात्मा अलग रहे बहुकाल……. ऐसे नहीं कि कृष्ण अलग रहे बहुकाल। महिमा ही उस निराकार की है-सुन्दर मेला कर दिया जब वह सतगुरू मिला दलाल। यहाँ तो सब गुरू ही हैं। गाया हुआ है-सतगुरू मिला दलाल…… सत परमपिता परमात्मा दलाल के रूप में मिलते हैं। सौदा दलाल द्वारा होता है। यह भी सगाई होती है। आत्मा और परमात्मा अलग हैं। परमात्मा है निराकार वह आकर इसमें प्रवेश कर तुम्हारी सगाई करते हैं। खुद दलाल बनते हैं। कहते हैं मुझ परमपिता परमात्मा को याद करो। इस शरीर में बैठ कहते हैं मामेकम् याद करो। मैं तुमको माया रावण से लिबरेट कर साथ ले जाऊगाँ, तुमको फिर राजाई देकर मैं निर्वाणधाम में बैठ जाऊंगा। कृष्ण थोड़ेही ऐसे कहेंगे। यह है ही आत्मा और परमात्मा। कृष्ण तो छोटा बच्चा है। बातें तो बहुत हैं समझाने की। तो बाबा ने समझाया है कैसे इसमें प्रवेशता हुई? फिर समझने लगा-मैं राजाओं का राजा बनता हूँ। विष्णु का साक्षात्कार हुआ और दिल में बहुत खुशी हुई। फिर विनाश का साक्षात्कार भी हुआ। परन्तु इतना समझ में नहीं आया। अभी समझते हैं बाबा ने यह साक्षात्कार कराया-तुम नर से नारायण बनेंगे। परन्तु उस समय इतनी समझ नहीं थी। जैसे बाबा रात को बतला रहे थे-पता नहीं क्या होता है जो शिवबाबा को याद करना भूल जाता हूँ। ऐसे तो नहीं बाप जब प्रवेश करते हैं तब समझता हूँ बाबा आया है, याद रहती है, बाबा चला जाता है तो भूल जाता हूँ। प्वाइन्ट सुनाते हैं तो फील होता है-बेहद का बाप आकर सुनाते हैं। परन्तु मैं खुद ही भूल जाता हूँ। क्या मेरी याद से ही आता है? ऐसे कहें-मैं घड़ी-घड़ी याद करता हूँ। भल आवे इसमें तो सबका कल्याण है। याद ही मुख्य हो जाती है। आये, न आये, बाप को याद जरूर करना है। बाबा ने समझाया है कि गीता जयन्ती के बाद होती है कृष्ण जयन्ती। पहले है शिवजयन्ती फिर गीता जयन्ती फिर कृष्ण जयन्ती। शिव तो बड़ा है। फट से आया और गीता सुनाई। छोटा तो नहीं है। इन बातों पर विचार सागर मंथन करना चाहिए-कैसे हम समझायें?

पहले ख्याल करो-शिव किसको कहते हैं, जिसकी रात्रि मनाई जाती है। सतयुग है श्रीकृष्ण की राजधानी। नर से नारायण बनने की नॉलेज तो जरूर फादर ही देंगे, वह नॉलेजफुल है। और किसको नॉलेजफुल नहीं कहा जाता। गॉड इज नॉलेजफुल, रचयिता, बीजरूप है। वही ड्रामा की नॉलेज सुनायेंगे। ड्रामा कब शुरू होता है और फिर कब पूरा होता है, किसको पता ही नहीं है। सतयुग से कलियुग अन्त तक वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी कैसे रिपीट होती है-यह कोई समझा नहीं सकते। सुनावे वह जो त्रिकालदर्शी हो। त्रिकालदर्शी तो कोई है नहीं, सिवाए एक के। वही तुमको त्रिकालदर्शी बनाते हैं। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) मास्टर नॉलेजफुल और त्रिकालदर्शी बन श्रीकृष्ण और परमात्मा शिव के महान् अन्तर को स्पष्ट कर घोर अन्धियारे से निकालने की सेवा करनी है।

2) बाबा जो एसे (निबन्ध) देते हैं उस पर विचार सागर मंथन करना है। ख्याल करना है-कैसे किसको समझायें।

वरदान:- खुशी के खजाने से सम्पन्न बन सदा खुश रहने और खुशी का दान देने वाले महादानी भव
संगमयुग पर बापदादा ने सबसे बड़ा खजाना खुशी का दिया है। रोज़ अमृतवेले खुशी की एक प्वाइंट सोचो और सारा दिन उसी खुशी में रहो। ऐसे खुशी में रहते दूसरों को भी खुशी का दान देते रहो, यही सबसे बड़े ते बड़ा महादान है क्योंकि दुनिया में अनेक साधन होते हुए भी अन्दर की सच्ची अविनाशी खुशी नहीं है, आपके पास खुशियों का भण्डार है तो दान देते रहो, यही सबसे बड़ी सौगात है।
स्लोगन:- महान आत्माओं का परम कर्तव्य है – उपकार, दया और क्षमा।

BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 30 AUGUST 2018 – Aaj Ka Purusharth

To Read 29 August Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

Om Shanti
30.08.2018

★【 आज का पुरूषार्थ】★

बाबा ने कहा… 
बच्चे, बाप आप बच्चों को जो भी संकल्प दे रहा है, उसे अपनी बुद्धि रूपी तिजोरी में समा, उसे अपने दिनचर्या में हर पल use करो।

• सब मेरे हैं, मुझे सभी से एक समान प्यार करना है…।

• मुझमें हर पल प्यार का सागर बहता रहें…।

• सभी आत्मायें जैसी भी हैं, मुझे accept है … हर कोई drama में 100% accurate part play कर रहा है, चाहे उसका part villain का, मूर्ख का, स्वयं को hero ना होते हुए भी hero समझने का … अर्थात् स्वयं को ऊँच और समझदार समझने का हो…, परन्तु हर हाल में मुझे हर आत्मा accept है और मुझे ही हर आत्मा का, हर पल, हर हाल में कल्याण करना है…। 
परन्तु उससे पहले स्वयं को, स्वयं की seat पर set कर 100% सन्तुष्ट और खुश रखना है, वो भी बाप (परमात्मा पिता) के according…।

• मुझे अपने पाँचों तत्वों से बने इस तन को love और light के साथ-साथ purity के vibrations देते हुए, इसके कल्याण के निमित्त इसे समझानी देनी है।

इसे इसका original स्वरूप, अर्थात् light का transparent स्वरूप की स्मृति देनी है…। हर हाल में इसे प्रेमपूर्वक समझानी देनी है।

• स्वयं से और स्वयं के part से सन्तुष्ट रहना अति आवश्यक है। 
सन्तुष्ट आत्मा ही बाप के कार्य में सहयोगी बन सकती है…।

इस तमोप्रधान दुनिया के बीच रहते उदासी के, भारीपन के या कोई भी problem के संकल्प आये, उसे conscious में आते ही एक side में कर, बाप के according संकल्प करने है।

यदि कहीं पर भी मूँझते हो या कुछ समझ ना आये, तो बार-बार स्वयं को स्वयं के संकल्पों समेत बाप के आगे समर्पण कर देना है।

देखो बच्चे, इस समय प्रकृति अर्थात् आपका तन आपके संकल्पों को समझ स्वयं को परिवर्तन करने का attention रख रहा है। 
इसलिए आप consciously कोई भी कमज़ोरी का संकल्प नहीं लाना…!

अधिक से अधिक स्वयं को conscious अवस्था में रखने का attention रखना है … क्योंकि जब आप aware रह स्वयं के तन को positive vibrations देते हो या खुश वा हल्के रहते हो, तब आपके तन का परिवर्तन speed से हो रहा होता है … और जब आप स्मृति स्वरूप नहीं होते, तो आपके तन के परिवर्तन का कार्य रूक जाता है…।

और इस समय बाप की श्रीमत के according अर्थात् बाप के प्यार में समाये रहने वाले अर्थात् निश्चयबुद्धि रहने वाले बच्चों के तन पर केवल positive effect ही रहता है, positive संकल्पों का…।

अन्यथा कार्य चाहे रूक जाये परन्तु opposite direction पर नहीं जा रहा है…।

जो बच्चे 100% निश्चयबुद्धि बन बाप की एक-एक समझानी को स्वयं में practical apply कर रहे हैं, उनका बाप 100% ज़िम्मेवार भी है और उनका परिवर्तन का कार्य झटके से कभी भी सम्पन्न हो सकता है…।

अच्छा। ओम् शान्ति।

【 Peace Of Mind TV 】
Dish TV # 1087 | Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 |
Jio TV |

TODAY MURLI 31 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 31 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 August 2018 :- Click Here

31/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, in order to make your stage that of a detached observer and cheerful, remain aware that each soul has his own part and that that which is predestined is taking place.
Question: By making which one effort can you children create your stage?
Answer: D on’t care about the storms of Maya but never have a “don’t care  attitude towards the shrimat that the Father gives you. By doing this, your stage will become unshakeable and immovable and it will also be cheerful and that of a detached observer. Your stage should be such that you never have to cry. Even if your mother dies, eat halva!
Song: You are the Mother and the Father. 

Om shanti. Children heard the song. Generally, people of the path of devotion go to the temples of Shiva, Lakshmi and Narayan, Radhe and Krishna or any of the other gods and goddesses. They sing the same praise in front of all of them: You are the Mother and the Father. Then they say: You are the One who gives knowledge, which means: You are the Mother and the Father and You are also the One who teaches us. In fact, you cannot say, “You are the Mother and the Father” to Lakshmi and Narayan or to Rama and Sita because they would have their own children who would not sing such praise. In fact, praise is of the one Shiva. Those people sing the praise, “Dev, Dev, Mahadev”, which means “You are greater than Brahma, Vishnu and Shankar.” They can’t understand the meaning of anything on the path of devotion. The Father now says: You have performed a lot of devotion. Now understand what I say and think about what is true and what is false. You children now understand that the praise that is sung of the Father and the deities is all wrong. Only that which I explain to you now is right. He explains to you children: This is an inverted tree and its Seed is the Supreme Father, the Supreme Soul. He lives up above. He is the Living Seed, whereas you are the children. Some people say that there is a soul in all seeds. However, those are non-living. The Father is called the Living Seed of the human world tree. People sing: O God, the Father! Achcha, you would not call a tree the Living Ocean of Knowledge. People have knowledge that that is a seed. The seed should definitely have knowledge of the tree. However, because it is non-living, it cannot say anything. Human beings understand that the seed is down below and that the tree emerges from it. The kalpa tree is compared to the banyan tree. That (kalpa tree) is living and this is non-living. There is a very big banyan tree in Calcutta. Its foundation has decayed but the tree is still standing. The wonder is that it doesn’t have a foundation. The Father explains: This tree doesn’t have a foundation either. The deity religion has disappeared but the rest of the tree exists. There are so many sects and cults. This is the unlimited tree. The unlimited Father sits here and explains. Baba writes that the birthday of Shiv Baba is like a diamond because Shiv Baba is the only One who changes us from shells into diamonds and creates heaven. Bharat has now become so poverty-stricken. People say, “Hum so, so hum”, but they don’t understand anything. Sannyasis have been beating drums, saying “I, the soul, am the Supreme Soul and the Supreme Soul is the soul.” You now know the meaning of everything. We have become Brahmins, then we will become deities and we will then go through the castes of warriors, merchants etc. The soul says: I will go through these castes. I was a shudra and have now come into the Brahmin caste. The Supreme Father, the Supreme Soul, is the One who has created everyone. He is also the One who created the deities Brahma, Vishnu and Shankar. The Father now sits here and explains to you children. You say: You are the Mother and the Father. Therefore, this one is truly the mother. The Father sits here and entertains you children. Meera was a devotee on the path of devotion. That is the rosary of devotees. There is also the rosary of knowledge. The name of the rosary of knowledge is the rosary of Rudra. “The rosary of Ravan” wouldn’t be said. People don’t perform devotion of Ravan. There is the rosary of Rama. Although it is now the kingdom of Ravan, there is no rosary of Ravan. There is the rosary of devotees, but there cannot be a rosary of devils. One of the highest devotees was Meera who had visions of Shri Krishna. She completely let go of the opinion of society. Who is the second highest devotee? Narad. He is praised and his example is given. People have sat and made up those stories, because they are not real. The Father says: All males and females are Sita. All are in Ravan’s cottage of sorrow. It is not a question of Lanka, but of Bharat. Only the one Father is the Bestower of Salvation for All. If that One didn’t exist, Bharat would be of no use. It is Bharat that becomes the most impure and the most pure. Bharat is the greatest pilgrimage place of all. Although people go to the pilgrimages places of their own prophets, the Bestower of Salvation for All is the one Father. Bharat alone is the imperishable land. The Father says: I come here and give liberation-in-life to Bharat and liberation to all the rest. I am the Bestower of Salvation for All. There is only the one Father who establishes the land of truth. He makes you children worthy of ruling in the land of truth, but He Himself doesn’t rule. The Father sits here and explains: I come here every cycle to give Bharat salvation. I take all the rest back with Me to liberation. The soul of every human being has an imperishable part recorded in him. This means that that which is predestined is taking place. For instance, when a person’s father has died and taken another birth, what would be achieved by that person crying? You just have to observe everything as a detached observer. This is the drama. There is no need to cry. You have to live at home with your family. If your mother dies, eat halva, or if your wife dies, eat halva. This is said for those who live at home with their families. Your stage should be such that you don’t experience any sorrow. You have to continue to remember your unlimited Father. Your stage should be as unshakeable as when Ravan was unable to shake Angad. Maya is very powerful. You remain stable. No matter how many storms of Maya come, don’t care about them. You mustn’t be afraid or confused by them. Make effort and make your stage strong. Very good things are explained. You understand that you are Parvatis. Shiv Baba is telling you the story of immortality. In the land of immortality, there is happiness from its beginning through the middle to its end. In this land of death, there is nothing but sorrow from its beginning through the middle to the end. All the festivals etc. refer to this time. There are no festivals of Lakshmi and Narayan etc. What service do they do? You Brahmins do a lot of service. The souls of deities are not called social workers: they are neither physical nor spiritual social workers. You are double social workers: physical and spiritual. OK, people find it difficult to become conquerors of attachment because they don’t have any aim or objective. Here, you have a lot of attainment and so you should have totally destroyed your attachment. Have yoga with the one Baba. Baba, o sweet Baba, we now know You fully! Previously, we used to say “God, the Father” just for the sake of saying it. You have now come here to give us the sovereignty of heaven once again. This iron age is going to become a graveyard, so why should we remember it? The Father says: While living at home with your family in this graveyard, remember Me. This is very easy. People continue to worship Krishna on the path of devotion, and their intellects continue to wander to their businesses etc. The horse of the mind constantly runs somewhere or other like a madman. The Father says: While earning your physical livelihood, connect your intellects in yoga to Me. You will receive a lot of attainment by remembering Me. You receive temporary attainment from everyone else. OK, you performed so much intense devotion, but what happened then? You had visions and that was all! You didn’t receive liberation or liberation-in-life. The Father now says: You are to become the masters of the world for 21 births. In heaven, even the womb is like a palace. Here, the womb is a jail. You don’t have to celebrate the birthday of Krishna at all. You just have to explain when it was the birth of Krishna. Where is Krishna now? You know that you are now studying to become the masters of the land of Krishna. You are sitting with the Father. Would you salute your father by putting your palms together in front of Him? When a teacher is teaching you, do you put your palms together in front of him? Do you have to praise him? You have to study with the teacher. Do children repeatedly put their palms together in front of their father? At this time, you are at home. You have the feeling that that One is the Father and also the Purifier. At this time, because there is the eclipse of the five vices, you have become absolutely ugly. The five vices have made you ugly. In the golden age, you were beautiful and you are now ugly. Shri Krishna was beautiful and is now ugly. How many times would he have become ugly and beautiful? The land of Kans, the devil, becomes the land of Krishna, and the land of Krishna then becomes the land of Kans. You souls are residents of Brahmand. It is called the brahm element. To say “I am brahm” is also an illusion. You are the masters of Brahmand. Your throne is the brahm element. The Father says: I am the Master of Brahmand. You souls also say: Actually, our land is Brahmand. There, you souls are pure. You are the masters of Brahmand and then also the masters of the world. I am only the Master of Brahmand. I have to enter this old body of the one who has taken the full 84 births. You children should read or listen to the murli very well five or six times, for only then will it sit in your intellects and your mercury of happiness rise. Maya repeatedly makes you forget to have remembrance. There is no question of forcing yourself in this. When you have time, just remember Baba and become like a tortoise. The best time is in the early morning hours. The effect of that time would last throughout the whole day. It has also been explained to you children that you first have to feed the One who is feeding you and then eat it yourself. You are eating from Shiv Baba’s sacrificial fire and so you first have to offer Him bhog. You have all those visions in the subtle region. It is fixed in the drama. You have to offer bhog to Shiv Baba. He is incorporeal. It is remembered that the deities desired to have Brahma Bhojan because you become deities from Brahmins by eating Brahma Bhojan. Deities come to the subtle region and a happy gathering takes place there. All of that is fun and games. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Keep your aim and objective fully in your intellect and become a conqueror of attachment. Forget this graveyard and remember the Father. Do spiritual and physical service.
  2. First of all, feed the One who is feeding you and then eat. The time of the early morning hours is good. Therefore, wake up at that time and remember the Father. You definitely have to read or listen to the murli five or six times.
Blessing: May you be an embodiment of all attainments and finish all name and trace of sorrow and peacelessness with your spiritual intoxication.
To have spiritual intoxication means to see souls while walking and moving around and to be soul conscious. By having this intoxication you experience all attainments. All sorrow is removed from a soul who is an embodiment of attainments and has spiritual intoxication. There is then no name or trace of sorrow or peacelessness because sorrow and peacelessness arise from impurity. Where there is no impurity, how could there be sorrow or peacelessness? Pure souls have natural happiness and peace within them.
Slogan: Those who are constantly absorbed in the love of One are free from obstacles.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 31 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 August 2018

To Read Murli 30 August 2018 :- Click Here
31-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – अपनी स्थिति साक्षी तथा हर्षित रखने के लिए स्मृति में रहे कि हर आत्मा का अपना-अपना पार्ट है, बनी बनाई बन रही”
प्रश्नः- तुम बच्चे किस एक पुरुषार्थ द्वारा अपनी अवस्था जमा सकते हो?
उत्तर:- माया के तूफानों को डोन्टकेयर करो और बाप जो श्रीमत देते हैं उसे कभी भी डोन्टकेयर न करो, इससे तुम्हारी अवस्था अचल-अडोल हो जायेगी, स्थिति सदा साक्षी और हर्षित रहेगी। तुम्हारी अवस्था ऐसी होनी चाहिए जो कभी भी रोना न आये। अम्मा मरे तो भी हलुआ खाना…..।
गीत:- तुम्हीं हो माता, पिता तुम्हीं हो….. 

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। अक्सर करके भक्ति मार्ग वाले मन्दिरों में जाते हैं, चाहे शिव के, चाहे लक्ष्मी-नारायण के, चाहे राधे-कृष्ण के या अन्य देवी-देवताओं के मन्दिरों में जायेंगे। सबके आगे यही महिमा करेंगे – त्वमेव माता-च-पिता….. फिर कहते हैं – त्वमेव विद्या द्रविणम्…… माना तुम मात-पिता भी हो, पढ़ाने वाले भी हो। वास्तव में लक्ष्मी-नारायण वा राम-सीता को त्वमेव माता-च-पिता नहीं कहेंगे क्योंकि उन्हों को तो अपने ही बच्चे होंगे। वह ऐसी महिमा नहीं गायेंगे। वास्तव में महिमा एक शिव की है। वह महिमा गाते हैं देव-देव महादेव। माना तुम ब्रह्मा, विष्णु, शंकर से भी ऊंच हो। भक्ति मार्ग में तो कोई अर्थ समझ न सके। अब बाप कहते हैं तुमने भक्ति बहुत की है, अब तुम मेरे से समझो और इस पर गौर करो कि सच क्या है, झूठ क्या है? तुम बच्चे अब समझते हो – बाप के बारे में और देवताओं के बारे में जो भी महिमा करते हैं वह सारी रांग है। अभी जो तुमको मैं समझाता हूँ वही राइट है।

बच्चों को समझाते हैं यह उल्टा वृक्ष है, इसका बीज है परमपिता परमात्मा। वह ऊपर में रहते हैं। वह तो चैतन्य बीज है ना। तुम ठहरे बच्चे। कई कहते हैं कि सब बीज आदि में भी आत्मा है। लेकिन वह तो जड़ है ना। बाप को कहा ही जाता है मनुष्य सृष्टि का चैतन्य बीजरूप। अब मनुष्य गाते हैं – ओ गॉड फादर। अच्छा, झाड़ को तुम चैतन्य ज्ञान सागर नहीं कहेंगे। मनुष्य में यह ज्ञान है कि यह बीज है। बीज में जरूर झाड़ का ज्ञान होना चाहिए। परन्तु जड़ होने के कारण बता नहीं सकते। मनुष्य तो समझ जाते हैं कि बीज नीचे है, उनसे झाड़ निकला हुआ है। कल्प वृक्ष और बनेन ट्री की भेंट करते हैं। वह जड़ है, यह चैतन्य है। कलकत्ते में बड़ का बहुत बड़ा झाड़ है। उनका थुर सारा निकल गया है, सिर्फ झाड़ खड़ा है। फाउण्डेशन है नहीं, वन्डर है ना। बाप समझाते हैं इस झाड़ का भी फाउण्डेशन है नहीं। देवी-देवता धर्म प्राय:लोप हो गया है, बाकी सारा झाड़ खड़ा है। कितने मठ-पंथ हैं! यह है बेहद का झाड़। बेहद का बाप बैठ समझाते हैं। बाबा लिखते भी हैं शिवबाबा का बर्थ डे हीरे जैसा है क्योंकि शिवबाबा ही कौड़ी से हीरे जैसा बनाते हैं, स्वर्ग बनाते हैं। अभी तो भारत कितना कंगाल बन गया है। मनुष्य हम सो, सो हम कहते हैं परन्तु समझते तो कुछ नहीं। हम आत्मा सो परमात्मा, परमात्मा सो आत्मा – यह ढिंढोरा सन्यासियों ने पिटवाया है। तुम अर्थ सहित जानते हो। हम सो ब्राह्मण बने हैं फिर हम सो देवता बनेंगे फिर हम सो क्षत्रिय….. वर्ण में आयेंगे। आत्मा कहती है हम इन वर्णों में जायेंगे। हम शूद्र थे, अभी हम ब्राह्मण कुल में आये हैं। परमपिता परमात्मा ही सबको रचने वाला है। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर देवताओं को भी रचने वाला वह है। अभी बाप बैठ बच्चों को समझाते हैं। तुम कहते हो त्वमेव माता-च-पिता…. तो माता भी यह बरोबर है। बाप बैठ बच्चों को बहलाते हैं। भक्ति मार्ग में मीरा भक्तिन थी। वह है भक्त माला। ज्ञान माला भी है। ज्ञान माला का नाम है रुद्र माला। रावण माला नहीं कहेंगे। रावण की भक्ति तो नहीं करते। राम माला है। भल अभी रावण राज्य है परन्तु रावण की माला नहीं होती। भक्त माला होती है, असुरों की माला तो नहीं होती। भक्त शिरोमणी में एक तो मीरा है उनको कृष्ण का साक्षात्कार होता था। लोक लाज सारी खोई थी। सेकेण्ड नम्बर में शिरोमणी भक्त कौन है? नारद। हाँ, उनका गायन है, दृष्टान्त दिया जाता है। यह तो सब बातें बैठ बनाई हैं। रीयल नहीं है।

बाप कहते हैं कि मेल-फीमेल सब सीतायें हैं। सब रावण की शोकवाटिका में है। लंका की बात नहीं, भारत की ही बात है। एक ही बाप सर्व का सद्गति दाता है। वह एक न हो तो भारत कुछ काम का नहीं है। सबसे जास्ती पतित और सबसे जास्ती पावन भारत ही बनता है। भारत ही सबसे बड़ा तीर्थ स्थान है। भल अपने-अपने पैगम्बरों के तीर्थों पर जाते हैं परन्तु सबका सद्गति दाता एक बाप है। भारत ही अविनाशी खण्ड है। बाप कहते हैं मैं यहाँ आकर भारत को जीवनमुक्ति देता हूँ, बाकी सबको मुक्ति देता हूँ, सबका सद्गति दाता मैं हूँ। सचखण्ड स्थापन करने वाला बाप एक ही है। सचखण्ड में राज्य करने के लिए बच्चों को लायक बनाते हैं, खुद राज्य नहीं करते। बाप बैठ समझाते हैं मैं कल्प-कल्प आता हूँ भारत को सद्गति देने। बाकी सबको गति में वापस ले जाता हूँ। हर एक मनुष्य मात्र की जो आत्मा है, हर एक में अविनाशी पार्ट भरा हुआ है। इसको कहा जाता है बनी बनाई बन रही….. समझो, किसका बाप मर गया, उसने जाकर दूसरा जन्म लिया, अब रोने से क्या होगा? साक्षी होकर देखना है। यह ड्रामा है, इसमें रोने की दरकार नहीं है। गृहस्थ व्यवहार में तो रहना है। अम्मा मरे तो भी हलुआ खाओ, बीबी मरे तो भी हलुआ खाओ। यह उन्हों के लिए है जो गृहस्थ व्यवहार में रहते हैं। तुम्हारी अवस्था ऐसी होनी चाहिए जो कुछ भी दु:ख न हो। बेहद के बाप को याद करते रहना है। इतनी अडोल अवस्था होनी चाहिए जैसे अंगद को रावण हिला नहीं सका। माया है बड़ी जबरदस्त। तुम स्थेरियम रहते हो। माया के कितने भी तूफान लगे, डोंटकेयर, घबराना नहीं है, फंक नहीं होना है। पुरुषार्थ करके अवस्था को जमाना है। बातें तो बहुत अच्छी समझाते हैं। तुम समझते हो हम पार्वतियां हैं, शिवबाबा अमरकथा सुनाते हैं। अमरलोक में है आदि-मध्य-अन्त सुख। इस मृत्युलोक में तो आदि-मध्य-अन्त दु:ख ही दु:ख है। त्योहार आदि सब इस समय के हैं। लक्ष्मी-नारायण आदि का कोई त्योहार नहीं। वह क्या सर्विस करते हैं। तुम ब्राह्मण बहुत सर्विस करते हो। देवताओं की आत्मा को सोशल वर्कर नहीं कहेंगे – न जिस्मानी, न रूहानी। तुम हो रूहानी-जिस्मानी डबल सोशल वर्कर।

अच्छा, मनुष्यों को नष्टोमोहा बनने में मेहनत लगती है क्योंकि उनके पास कोई एम ऑब्जेक्ट नहीं है। यहाँ तो तुमको प्राप्ति बहुत है तो बहुत नष्टोमोहा होना चाहिए ना। एक बाबा के साथ योग लगाना है – बाबा, ओ मीठे-मीठे बाबा, आपको हमने पूरा जान लिया है, आगे तो सिर्फ कहने मात्र गॉड फादर कहते थे, अभी तो आप आये हो फिर से स्वर्ग की राजाई देने, यह कलियुग तो कब्रिस्तान होने वाला है इसलिए हम इसको क्यों याद करें। बाप कहते हैं इस कब्रिस्तान में, गृहस्थ व्यवहार में रहते मुझे याद करो। यह तो बहुत सहज है। जैसे भक्ति मार्ग में मनुष्य कृष्ण की पूजा करते रहते हैं, बुद्धि धन्धे धोरी में भागती रहती है। मन का घोड़ा कहाँ न कहाँ भागता रहेगा, तवाई के मुआफिक। बाप कहते हैं कि शरीर निर्वाह करते बुद्धि का योग मेरे साथ लगाओ। मेरी याद से तुम्हें बहुत प्राप्ति होगी। और सबसे तो अल्पकाल की प्राप्ति होती है। कितनी नौधा भक्ति की, अच्छा, फिर क्या हुआ? साक्षात्कार किया, बस ना। मुक्ति-जीवन-मुक्ति तो नहीं मिली। अब बाप कहते हैं कि तुम 21 जन्मों के लिए विश्व के मालिक बनते हो। स्वर्ग में गर्भ भी महल होता है। यहाँ तो गर्भ जेल है। कृष्ण जन्माष्टमी आदि का तुमको कुछ भी मनाना करना नहीं है। तुमको सिर्फ समझाना है कि कृष्ण का जन्म कब हुआ? कृष्ण अभी कहाँ है? तुम जानते हो अभी हम कृष्णपुरी का मालिक बनने के लिए पढ़ रहे हैं। बाप के पास बैठे हैं। बाप को हाथ जोड़े जाते हैं क्या? टीचर पढ़ाते हैं तो क्या उनको हाथ जोड़ना होता है, महिमा करनी होती है? टीचर से तो पढ़ना है। बच्चे बाप को घड़ी-घड़ी हाथ जोड़ते हैं क्या? इस समय तो तुम घर में हो। तुमको भासना आती है यह बाप भी है, पतित-पावन भी है। इस समय 5 विकारों का ग्रहण लगने के कारण तुम बिल्कुल ही काले बन गये हो। 5 विकारों ने काला कर दिया है। सतयुग में तुम गोरे सुन्दर थे, अभी श्याम हो। श्रीकृष्ण सुन्दर था, अभी श्याम है। कितने बारी श्याम और सुन्दर बना होगा! कंसपुरी ही कृष्णपुरी बन जाती है। कृष्णपुरी फिर कंसपुरी बन जाती है।

तुम आत्मायें ही तो ब्रह्माण्ड की रहने वाली हो। ब्रह्म तत्व कहा जाता है। अहम् ब्रह्म कहना भी भ्रम है। तुम ब्रह्माण्ड के मालिक हो। तुम्हारा सिंहासन ब्रह्माण्ड है। बाप कहते हैं मैं तो ब्रह्माण्ड का मालिक हूँ ही। तुम आत्मायें भी कहती हो – हमारा देश वास्तव में ब्रह्माण्ड है। वहाँ तुम्हारी आत्मायें पवित्र हैं। तुम ब्रह्माण्ड के मालिक हो तो फिर विश्व के भी मालिक हो। मैं तो सिर्फ ब्रह्माण्ड का ही मालिक हूँ। मुझे इस पुराने तन में आना पड़ता है, जिसने पूरे 84 जन्म लिए हैं। बच्चों को मुरली अच्छी तरह 5-6 बार पढ़ना वा सुनना चाहिए तब ही बुद्धि में बैठेगी और खुशी का पारा चढ़ेगा। माया घड़ी-घड़ी याद भुला देती है। इसमें कोई हठ आदि करने की बात नहीं। फुर्सत मिली, अच्छा, बाबा को याद करना है कछुए मिसल। सबसे अच्छा है – अमृतवेले का टाइम। उसका असर सारे दिन रहेगा। यह भी बच्चों को समझाया गया है कि पहले खिलाने वाले को खिलाकर फिर खाना है। शिवबाबा के यज्ञ से खाते हैं तो पहले उनको भोग लगाना पड़े। यह सब सूक्ष्मवतन में साक्षात्कार होते हैं। ड्रामा में नूंध है। तुमको भोग लगाना है शिवबाबा को। वह तो निराकार है। गाया भी जाता है देवताओं के लिए – उनको ब्रह्मा भोजन की आश थी क्योंकि तुम ब्रह्मा भोजन खाकर ब्राह्मण से देवता बनते हो। सूक्ष्मवतन में देवतायें आते हैं, महफिल लगती है, यह सब खेल-पाल है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बुद्धि में पूरी एम ऑब्जेक्ट रख नष्टोमाहा बनना है। इस कब्रिस्तान को भूल बाप को याद करना है। रूहानी जिस्मानी सेवा करनी है।

2) खिलाने वाले को खिलाकर फिर खाना है। अमृतवेले का समय अच्छा है इसलिए उस समय उठकर बाप को याद करना है। मुरली 5-6 बार सुननी वा पढ़नी जरूर है।

वरदान:- रूहानी नशे द्वारा दु:ख-अशान्ति के नाम निशान को समाप्त करने वाले सर्व प्राप्ति स्वरूप भव
रूहानी नशे में रहना अर्थात् चलते-फिरते आत्मा को देखना वा आत्म-अभिमानी रहना। इस नशे में रहने से सर्व प्राप्तियों का अनुभव होता है। प्राप्ति स्वरूप रूहानी नशे में रहने वाली आत्मा के सब दुख दूर हो जाते हैं। दुख-अशान्ति का नाम निशान भी नहीं रहता क्योंकि दुख और अशान्ति की उत्पत्ति अपवित्रता से होती है। जहाँ अपवित्रता नहीं वहाँ दु:ख अशान्ति कहाँ से आई! जो पावन आत्मायें हैं उनके पास सुख और शान्ति स्वत: ही है।
स्लोगन:- जो सदा एक की लगन में मगन हैं वही निर्विघ्न हैं।

BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 29 AUGUST 2018 – Aaj Ka Purusharth

To Read 28 August Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

Om Shanti
29.08.2018

★【 आज का पुरूषार्थ】★

आज बाबा ने कहा… 
बच्चे, आपके सामने छोटी-छोटी जो परिस्थितियां आ रही है, उनके कारण और निवारण को ना जानने के कारण आप अपनी स्थिति को ऊपर-नीचे करते रहते हो…।

Actually में आप बच्चों के आगे यह परिस्थितियां कुछ है ही नहीं…।

क्योंकि आप बहुत अधिक शक्तिशाली हो, परन्तु अभी अपनी शक्तियों का भली-भान्ति ज्ञान ना होने के कारण थोड़ा भारी हो जाते हो…!

और मैं बाप, इस समय केवल आप बच्चों को सर्वशक्तिवान् की seat पर set करने के लिए श्रीमत दे रहा हूँ…।

इस समय ना तो मैं बाप आपकी क्षण भंगुर छोटी-छोटी सी परिस्थितियां जिनकी कोई value ही नहीं है, उसे ठीक कर रहा हूँ … और ना ही आपकी तपस्या का उसपर कोई प्रभाव है, क्योंकि इस समय आपका स्वयं पर attention बहुत ज़रूरी है…।

परिस्थितियों का क्या है, वो तो एक जाएगी और दूसरी आएगी…!

इसलिए बाप (परमात्मा पिता) का full attention आप पर ही है और बहुत ही जल्दी आपकी शक्तियां एक गुण के साथ बाहर आयेगी और आपकी सभी परिस्थितियां एक सपने की तरह खत्म हो जायेगी…।

बस स्वयं पर और बाप पर 100% निश्चय रख अपने कार्य पर तत्पर रहो…।

अच्छा। ओम् शान्ति।

【 Peace Of Mind TV 】
Dish TV # 1087 | Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 |
Jio TV |

TODAY MURLI 30 AUGUST 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 30 August 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 29 August 2018 :- Click Here

30/08/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, pay attention to the philosophy of action, neutral action and sinful action and don’t perform any sinful actions with your physical sense organs. Make a donation and the bad omens of the eclipse will be removed.
Question: By following Father Brahma in which aspect do you children become seated on the throne in the future?
Answer: Father Brahma surrendered everything he had including his body and gave everything to serve the children in the name of God. He insured himself directly and thereby received the kingdom of the world. F ollow the father in the same way. You have to claim the certificate of being worthy. Become real children and serve with your bodies, minds and wealth. Become the Father’s true helpers. By insuring everything, you can claim a right to a kingdom for 21 births.
Song: Do not forget the days of your childhood .

Om shanti. You sweetest children heard the song. You children have now died alive and taken the lap of the Father in order to go from this world to that world. Which Father is He? “The Supreme Father, the Supreme Soul”, means God. Whenever you explain, you mustn’t say that Baba is a Jyotilingam, or that He is the form of light, brighter than a thousand suns. To say this is, in fact, wrong. What should you say? God, that is, the Supreme Father, the Supreme Soul, always resides in the supreme abode. The Supreme means the Highest on High, the i ncorporeal Father. He is the Father of all souls and this is why He is called the Supreme. He doesn’t enter the cycle of birth and death. He explains: Children, if I too entered the cycle of birth and death, who would uplift everyone? I alone come and take everyone beyond sorrow. I am the Remover of Sorrow and the Bestower of Happiness, but no one knows this. On the path of devotion, people continue to sing: O Supreme Father, Supreme Soul! They definitely consider Him to be the Father, but they don’t know what their Father is like or what He is. He doesn’t have the form of a human being. People also remember Brahma, Vishnu and Shankar. They can be seen with these eyes, but who is Shiva? People go to a Shiva Temple, but they don’t know why they remember Him. The Father sits here and explains: When the deities go on to the path of sin, they build the temple to Somnath. The only thing they understand is that He is Shiv Baba, but they don’t know that He is the Creator of heaven or that He is the One who makes us into the masters of heaven. If they knew this, they would tell others the biography of Shiv Baba. It is fixed in the drama for them not to know. To know means to receive the inheritance. Not to know means to lose the inheritance. The Father says: I, the Creator of heaven, give you happiness and make you pure. Then the five vices make you impure and the degrees continue to decrease. You then become ugly. At first, you were a 16 celestial degrees full moon; you were pure, but you are now eclipsed. Baba says: Make a donation and the bad omens of the eclipse will be removed. The five vices are said to be the eclipse of bad omens through which you souls become unhappy and ugly. The Father says: I am the Father of you Brahmins. O Brahmins, donate to Me the five vices that you have and the eclipse of the bad omens will be removed. After donating them today, don’t do anything with them. Many storms of Maya will come, but if you become angry, you would be committing sin through your physical organs. I explain the philosophy of action, neutral action and sinful action. Your actions should not become sinful. I am making you children into conquerors of sinful actions. Those are the omens of Rahu. When you make a donation, the eclipse of the omens will be removed. The Father says: My sweet children, donate those five evil spirits. There is no question of any money etc. in this. He is the Father and you are real children. The Father surely has to help the real children. You serve with your bodies, minds and wealth. The Father’s duty is to serve you. The Father says: All of this belongs to you children. You have been giving to God on the path of devotion. However, God is not greedy. You are insuring yourselves. By your giving to God, God will then give to you in your next birth. This is insuring, is it not? You receive the fruit of it in your next birth. God is the Bestower. You are now insuring yourselves for 21 births. Those people insure themselves for one birth. Here, everything is insured for 21 births. It is said: Son shows the Father. Look, whatever the father (Brahma Baba) had, he used it in the name of God to serve the children. He made Shiv Baba his Heir. He gave his body, mind and wealth and because he did everything directly, he received the sovereignty of the world in return through his own efforts. By belonging to Me, you become the masters of heaven for 21 births, but you will receive the inheritance to the extent that you surrender yourselves. You have to surrender everything including your body. Those who follow the mother and father will sit on the throne. The Father says: Make a donation and the eclipse of the omens will be removed. If you take something back after you have donated it, you will become degraded. You have to make full effort. Effort-making students who study well claim a number. You too can make effort and claim a high number. There is no question of any difficulty in this. You simply have to remain pure. You receive power from Baba for this and the mercury of happiness also rises. We want to become deities and so we mustn’t have any defects in us. You have to become 16 celestial degrees full and fully viceless here and so you mustn’t have any defects. You have been vicious for half the cycle and so Maya says: You are now trying to become viceless and so I will once again make you vicious. This is the war with Maya that continues. This is the difficulty. You have to conquer Maya. Those people have then shown a violent war and falsified everything. You become the masters of the world by conquering Maya. You children understand that if you don’t donate the five vices to the Father, you won’t be able to marry Shri Lakshmi or Narayan. Therefore, you children should look into the mirror of your heart: Did I do anything wrong through my physical sense organs? The storms of Maya that come will be stronger than they were previously. When herbalists give medicine, they warn you that all the old illnesses will erupt before you get better. You mustn’t be afraid of this. These will come. That One is also the Surgeon. He says: When you become My children, you will have a big war with Ravan. Maya will attack you a great deal. Therefore, you mustn’t be afraid of storms. You belong to the Father and so don’t forget this childhood: this is your Godly childhood. You come into God’s lap once and then into the lap of deities for 21 births. After your Godly birth you go to heaven. You each have to claim the certificate. Baba, am I a worthy child or an unworthy child of yours? Baba can tell you which number worthy child you are. Baba can tell you what is still lacking in you. You yourselves can understand: If I am not doing service, how can I claim such a high status? Achcha, Baba tells you what to do: Open a hospital-cum-college. You may not go there, but when many people receive a cure there, you will receive the reward of that. Human beings build dharamshalas so that many people can rest there, and so they would receive a very good palace in their next birth. Many children come to Baba and say: Open this hospital and we will help you. Open a big hospital. If you don’t have time to take this knowledge, then just take three feet of land and open this hospital-cum-college. Through the hospital you will become ever healthyand through the college you will become ever wealthy. When many people become this, you will accumulate the charity of that. There is not a lot of expense in this. People nowadays earn so much money. They have properties worth millions. Will their sons and grandsons etc. eat from that? They won’t even get the dust. Everything is to be destroyed. The poor ones receive a kingdom. Baba is the Lord of the Poor. This Baba was a number one ordinary person. Someone who just has one or two thousand would be called a poor person. Here, even the poor can claim a high status. What would you do with a hundred thousand or a million of someone’s? Establishment is carried out with every penny of the poor. Gandhiji used to receive so many donations, and yet so many people died in that. They endured so much difficulty. You don’t have any difficulty. The Father says: First of all, study Raja Yoga and the kingdom will be given to you. This kingdom here is like a mirage. There is the story of Draupadi inviting Duryodhan to her palace and when he came, he saw a lake and began to take off his clothes. So, Draupadi told him: Blind child of the blind, that is just a mirage. They all think that they have received their independence, but there is so much sorrow. People are so unhappy. Death is standing just ahead. The Father says: All are already dead. This is a graveyard and you have to make it into the land of angels. You will build palaces studded with diamonds and pearls. Here, it is the land of stones, whereas there, it will be the land of gold. Therefore, the Father explains: When you make a donation, the eclipse of the omens will be removed and you will then become 16 celestial degrees full. You are now impure. Human beings are so unhappy. When war takes place, people lose their sleep; they are unable to sleep. They sleep by taking sleeping tablets. This is the kingdom of Ravan. They will now burn Ravan on Dashera. They will continue to burn it till the end, until destruction takes place. After destruction, Ravan’s image will not be burnt. Then, in the copper age, they will again create Ravan in order to burn him. They burn Ravan every year, but he just doesn’t die. You celebrate Raksha Bandhan and have a rakhi tied every year and yet you also become impure again. Lakshmi and Narayan had so much wealth. They are worshipped so much. They don’t worship Lakshmi alone; they worship the four-armed image. Both are included in that. Together with Lakshmi, Narayan is also needed; they worship both of them. How could anything function without a couple? This is the family path. You become the masters of the world. Children say that other people tell them: If you don’t worship Lakshmi at Diwali, wealth will not come to you. Therefore, Baba advises you: Children, just play your parts as detached observers. Otherwise, there will be conflict. Baba says: If you have to get your daughter married, simply play your part as a detached observer. Otherwise, there will be a quarrel. If the daughter doesn’t want to remain viceless, then, in those desperate circumstances, get her married. If she doesn’t want to remain pure, then just let her go; don’t harass her. A kumari is one who uplifts 21 generations. All of you are Brahma Kumaris and your business is to make everyone into a master of heaven. Ask your heart: How many do I make the same as myself? This is a mission. Here, you change human beings into deities and so you have to make a lot of effort. You are God’s helpers. I liberate you from sorrow and make you into the masters of heaven. I am altruistic. I give you the kingdom and go into retirement. I have no desire to rule a kingdom. I give you the kingdom. You can take your fortune of the kingdom once again. You know that you were deities. You went through 84 births and today you are part of Ravan’s community. People always burn an effigy of Ravan. They never worship Ravan. Those who give happiness are worshipped. They make an image of Ravan and then burn it; he always causes sorrow. How can you praise someone who causes you sorrow? Shiv Baba is the Bestower of Happiness. People go and offer flowers to Him every day, but they don’t know His occupation. Nowadays, there is a lot of blind faith. Baba says: You mustn’t forget the Father who gives you the happiness of heaven. Otherwise, you won’t be able to receive the abundant happiness of heaven. Since you say “Mama, Baba” you will go to heaven, but you will become maids and servants. You children have understood the meaning of the song. After belonging to God, don’t forget this childhood. You have changed from devilish children into Godly children and you are to become deity children. This is your Godly birth. At this time you are servers. You are spiritual social workers. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. After taking a Godly birth don’t perform any wrong actions. Become a worthy child. Remove the defects and imbibe divine virtues.
  2. Become Godly helpers and make others equal to yourselves by doing spiritual service. Take three feet of land and open a spiritual hospital-cum-college. Become a full helper with your body, mind and wealth.
Blessing: May you be free from bondage and celebrate the completion ceremony by finishing your old karmic accounts.
When all you souls in this foreign world are bound in bondage, the Father comes and makes you free from bondage by reminding you of your original form and original land. He makes you into masters of the self, self-sovereigns, and then takes you to your original land. So, in order to go back to your original land, celebrate the completion ceremony of finishing all karmic accounts. When you celebrate this ceremony now you will then be able to celebrate the perfection ceremony at the end. Only those who have been free from bondage over a long period of time are able to attain the status of liberation in life over a long period of time.
Slogan: To make weak souls powerful with the co-operation of your zeal and enthusiasm and sweet words is to have pure and positive thoughts for others.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 30 AUGUST 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 August 2018

To Read Murli 29 August 2018 :- Click Here
30-08-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – कर्म, अकर्म, विकर्म की गति को ध्यान में रखते हुए इन कर्मेन्द्रियों से कोई भी पाप कर्म नहीं करना, दे दान तो छूटे ग्रहण”
प्रश्नः- किस बात में ब्रह्मा बाप को फालो करने वाले बच्चे भविष्य में तख्तनशीन बनते हैं?
उत्तर:- जैसे ब्रह्मा बाप देह सहित पूरा बलि चढ़े, अपना सब कुछ ईश्वर अर्थ बच्चों की सेवा में लगा दिया, डायरेक्ट इनश्योर किया इसलिए विश्व की राजाई मिली, ऐसे ही फालो फादर। सपूत बनने का सर्टीफिकेट लेना है। सगे बन तन-मन-धन से सेवा करनी है। बाप का पूरा मददगार बनना है। सब कुछ इनश्योर कर 21 जन्मों की राजाई का हकदार बन सकते हो।
गीत:- बचपन के दिन भुला न देना…….. 

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे बच्चों ने गीत सुना। अब बच्चों ने जीते जी इस दुनिया से मरकर उस दुनिया में जाने के लिए बाप की गोद ली है। कौन-सा बाप है? परमपिता परम आत्मा माना परमात्मा। हमेशा जब समझाते हो तो ऐसे मत कहो बाबा ज्योतिर्लिंगम हैं, अथाह ज्योति स्वरूप है, हजार सूर्यों से तेजोमय हैं, यह कहना वास्तव में रांग है। क्या कहना है? परमपिता परमात्मा यानी परम आत्मा, वह सदैव परमधाम में रहते हैं। परम अर्थात् ऊंच ते ऊंच इनकारपोरियल फादर। वह सभी आत्माओं का बाप है इसलिए उनको सुप्रीम कहा जाता है। वह जन्म-मरण के चक्र में नहीं आते हैं। समझाते हैं – बच्चे, मैं भी अगर जन्म-मरण के चक्र में आऊं तो फिर सबका उद्धार कौन करे? मैं ही आकर सभी को दु:खों से पार कर ले जाता हूँ। दु:ख हर्ता और सुख देने वाला मैं हूँ परन्तु जानते नहीं हैं। भक्ति मार्ग में गाते रहते हैं – ओ परमपिता परमात्मा! जरूर समझते हैं वह फादर है। परन्तु हमारा बाप कैसे है, वह क्या चीज़ है – यह नहीं जानते हैं। मनुष्य जैसा रूप तो है नहीं। ब्रह्मा, विष्णु, शंकर को भी याद करते हैं। वह तो इन आंखों से देखने में आते हैं। बाकी यह (शिव) कौन हैं, शिव के मन्दिर में जाते हैं परन्तु उनको क्यों याद करते हैं, यह नहीं जानते।

बाप बैठ समझाते हैं देवी-देवतायें जब वाममार्ग में आते हैं तो सोमनाथ का मन्दिर बनाते हैं। सिर्फ इतना समझते हैं कि शिवबाबा है, परन्तु यह नहीं जानते कि वह स्वर्ग का रचयिता है। हमको स्वर्ग का मालिक बनाने वाला है। अगर जानते तो औरों को शिवबाबा की बायोग्राफी बतलाते। ड्रामा में नूँध ही न जानने की है। जानना अर्थात् वर्सा पाना। न जानना अर्थात् वर्सा गँवाना। बाप कहते हैं मैं स्वर्ग का रचयिता तुमको सुख देता हूँ, पावन बनाता हूँ। फिर 5 विकार तुमको पतित बनाते हैं। कलायें कमती होती जाती हैं। तुम काले हो जाते हो। पहले तुम 16 कला सम्पूर्ण चन्द्रमा थे, पावन थे, अब तुम्हारे को ग्रहण लग गया है। बाबा कहते हैं दे दान तो छूटे ग्रहण। पांच विकारों को ही ग्रहण कहा जाता है। जिससे तुम आत्मा दु:खी, काली बन पड़ती हो। बाप कहते हैं मैं तुम ब्राह्मणों का बाप हूँ। हे ब्राह्मणों, तुम्हारे पास जो यह 5 विकार हैं यह मुझे दान में दे दो तो ग्रहण छूटे। आज से दान देकर फिर कभी उनसे कुछ नहीं करना। माया के तूफान तो बहुत आयेंगे। लेकिन कर्मेन्द्रियों से क्रोध आदि करने से पाप हो जायेगा। कर्म-अकर्म-विकर्म की गति भी तुमको समझाता हूँ। तुम्हारा कर्म विकर्म नहीं बनना चाहिए। मैं तुम बच्चों को विकर्माजीत बनाता हूँ। यह तो राहू का ग्रहण है। दे दान तो छूटे ग्रहण। बाप कहते हैं – मेरे मीठे बच्चे, यह 5 भूतों का दान दो, इसमें पैसे आदि की तो कोई बात नहीं। यह तो बाप है, तुम सगे बच्चे हो। बाप को तो सगे बच्चों को मदद करनी ही है। तुम भी तन-मन-धन से सेवा करते हो। बाप का भी फ़र्ज है तुम्हारी सेवा करे। बाप कहते हैं – यह सब कुछ तुम बच्चों का है। भक्ति मार्ग में तुम भगवान् को देते आये हो। परन्तु ईश्वर कोई भूखा थोड़ेही है। यह तुम इनश्योर करते हो। ईश्वर को देने से ईश्वर फिर दूसरे जन्म में तुमको देंगे। यह इनश्योर करना हुआ ना। दूसरे जन्म में इसका फल मिलता है। ईश्वर है दाता। अभी तुम अपने को इनश्योर करते हो – 21 जन्म लिए। वह इनश्योर करते हैं एक जन्म के लिए। यहाँ तो सब कुछ इनश्योर हो जाता है – 21 जन्मों के लिए। कहा जाता है सन शोज़ फादर। देखो फादर (ब्रह्मा बाबा) के पास जो कुछ था सब ईश्वर अर्थ बच्चों की सेवा में लगा दिया, शिवबाबा को वारिस बना दिया, तन-मन-धन सब कुछ दे दिया तो उनके बदले में फिर अपने पुरुषार्थ से विश्व की बादशाही मिलती है क्योंकि डायरेक्ट है ना। तुम मेरा बनने से 21 जन्म स्वर्ग के मालिक बनते हो परन्तु जितना बलि चढ़ेंगे, उतना वर्सा मिलेगा। देह सहित सब कुछ बलि चढ़ाना है। जो मदर-फादर को फालो करेंगे वही तख्त पर भी बैठेंगे। तो बाप कहते हैं दे दान तो छूटे ग्रहण। दान देकर और फिर अगर वापिस ले लिया तो दुर्गति को ही पायेंगे। पूरा पुरुषार्थ करना है। पुरुषार्थी स्टूडेन्ट अच्छी रीति पढ़ते तो नम्बर भी लेते हैं। तुम भी पुरुषार्थ कर ऊंच नम्बर लो। इसमें कोई तकलीफ की बात नहीं, सिर्फ पवित्र रहना है। इसके लिए बाबा से बल भी मिलता है। खुशी का पारा भी चढ़ता है।

हमको देवता बनना है तो कोई अवगुण नहीं होना चाहिए। 16 कला सम्पूर्ण, सम्पूर्ण निर्विकारी यहाँ ही बनना है तो कोई अवगुण नहीं होना चाहिए। आधाकल्प विकारी बने हो तो माया भी कहती है अभी यह निर्विकारी बनते हैं, हम फिर विकारी बनाती हूँ। यह चलती है माया की युद्ध। यह है मुश्किलात। माया पर जीत पानी है। उन्होंने फिर हिंसक लड़ाई दिखाए खण्डन कर दिया है। तुम माया पर जीत पाने से विश्व के मालिक बनते हो। बच्चे समझते हैं बाप को 5 विकारों का दान नहीं देंगे तो श्री नारायण वा लक्ष्मी को वर नहीं सकेंगे। तो तुम बच्चों को दिल दर्पण में देखना चाहिए – मैंने कर्मेन्द्रियों से तो नहीं कुछ किया? माया के तूफान तो आगे से भी जबरदस्त आयेंगे। वैद्य लोग दवाई देते हैं तो कहते हैं कि पहले वाली पुरानी बीमारी बाहर निकलेगी। इसमें डरना नहीं है। यह तो आयेंगे। यह भी सर्जन है। कहते हैं कि तुम मेरे बच्चे बनेंगे तो फिर तुम्हारी खूब रावण से युद्ध होगी। माया खूब वार करने लगेगी इसलिए तूफान से डरना नहीं है। बाप के बने हो तो यह बचपन भूल नहीं जाना। यह है ईश्वरीय बचपन। ईश्वर की गोद में एक बार आये फिर देवताई गोद में 21 बार जायेंगे। ईश्वरीय जन्म के बाद तुम स्वर्ग में जाते हो। सर्टीफिकेट लेना है। बाबा, हम आपका सपूत बच्चा हूँ या कपूत? तो बाबा बतला सकते हैं, सपूत भी किस नम्बर में हो? क्या ख़ामी है? बाबा बतला सकते हैं। खुद भी समझ सकते हैं कि हम सर्विस नहीं करते हैं तो इतना ऊंच पद कैसे पायेंगे? अच्छा, बाबा कहते हैं तुम क्या करो, एक हॉस्पिटल अथवा कॉलेज खोल दो। भल तुम इसमें जाना नहीं, और बहुत लोग शफा पायेंगे तो उसका इज़ाफा तुमको मिलेगा। मनुष्य धर्मशाला बनाते हैं, इसलिए कि बहुत आकर विश्राम पायेंगे तो दूसरे जन्म में उसको अच्छा महल मिलेगा। बाबा के पास बहुत आते हैं, कहते हैं यह हॉस्पिटल खोलो, हम मदद देंगे। बड़ी हॉस्पिटल खोलो। अगर ज्ञान उठाने की खुद को फुर्सत नहीं, तो अच्छा तीन पैर पृथ्वी के लेकर यह हॉस्पिटल कम कॉलेज खोल दो। हॉस्पिटल से एवरहेल्दी बनेंगे। कॉलेज से एवरवेल्दी बनते हैं। बहुत आकर बनेंगे तो तुम्हारा पुण्य होगा। जास्ती खर्चा भी नहीं है। आजकल पैसे कितने कमाते हैं, करोड़ों के आसामी हैं! क्या उनके पुत्र-पोत्रे खायेंगे? धूर भी नहीं, सब विनाश हो जायेगा। राजाई गरीबों को मिलती है। गरीब निवाज है ना। यह बाबा नम्बरवन साधारण था। हजार दो हैं तो उनको गरीब कहेंगे। यहाँ गरीब भी अच्छा पद पा सकते हैं। किसका लाख-करोड़ लेकर क्या करेंगे? गरीबों की पाई-पाई से ही स्थापना करते हैं। गांधी को कितना दान देते थे, उसमें कितने मरे! कितनी तकलीफें सहन की! तुमको तो कोई तकलीफ नहीं। बाप कहते हैं तुम पहले राजयोग सीखो तो तुमको राजाई देंगे। यह राज्य तो मृगतृष्णा सदृश्य है। कहानी है ना द्रोपदी ने दुर्योधन को निमंत्रण दिया। वह आया तो तालाब समझ वस्त्र उतारने लगा तो द्रोपदी ने कहा – अन्धे की औलाद अन्धे, यह तो रुण्य का पानी (मृगतृष्णा) है। सभी समझते हैं हमने स्वराज्य पा लिया है, परन्तु कितना दु:ख है! प्रजा कितनी दु:खी हैं, मौत सामने खड़ा है। बाप कहते हैं यह सब मरे पड़े हैं। कब्रिस्तान है, तुमको फिर परिस्तान बनाना है। हीरे-मोतियों के महल बनायेंगे। यहाँ तो यह पत्थरपुरी है, वहाँ होगी सोने की इसलिए बाप समझाते हैं – दे दान तो छूटे ग्रहण, फिर 16 कला सम्पूर्ण हो जायेंगे। अभी तुम पतित हो, मनुष्य कितने दु:खी हैं। लड़ाई लगती है तो नींद फिट जाती है। आराम नहीं आता है, नींद की गोली लेकर नींद करते हैं। यह है ही रावण राज्य। अभी दशहरे पर रावण को जलायेंगे, यह अन्त तक जलाते रहेंगे, जब तक कि विनाश हो। विनाश के बाद फिर रावण जलेगा नहीं। फिर द्वापर के बाद रावण निकालते हैं जलाने के लिए। साल-साल रावण को जलाते हैं परन्तु मरता ही नहीं। साल-साल तुम रक्षाबंधन मनाती हो, राखी बांधती हो फिर अपवित्र बन जाते हैं।

लक्ष्मी-नारायण के पास तो कितना अथाह धन था! कितनी उन्हों की पूजा होती है! पूजा सिर्फ लक्ष्मी की थोड़ेही करते हैं, चतुर्भुज की करते हैं। उसमें दोनों आ जाते हैं। लक्ष्मी के साथ नारायण तो जरूर चाहिए। इसलिए दोनों की पूजा करते हैं। जोड़ी बिगर काम कैसे चलेगा? प्रवृत्ति मार्ग है ना। तुम विश्व के मालिक बनते हो। बच्चे पूछते हैं दीवाली पर सब कहते हैं – अगर लक्ष्मी की पूजा नहीं करेंगे तो धन तुम्हारे पास नहीं आयेगा इसलिए बाबा राय देते हैं- बच्चे, इसमें भी साक्षी होकर पार्ट बजाओ, नहीं तो खिट-खिट होगी। जैसे बाबा कहते हैं – बच्ची की शादी करानी है तो साक्षी होकर पार्ट बजाओ, नहीं तो झगड़ा होगा। बच्चियां निर्विकारी नहीं रहना चाहती तो लाचारी हालत में उनकी शादी करा दो। पवित्र रहना नहीं चाहती हैं तो रवाना कर देना है, तंग नहीं करना है। कुमारी वह जो 21 कुल का उद्धार करे। तुम सब ब्रह्माकुमारियां हो, तुम्हारा धन्धा है ही सभी को स्वर्ग का मालिक बनाना। दिल से पूछो – हम कितने को आपसमान बनाते हैं? मिशन है ना। यहाँ तुम मनुष्य को देवता बनाते हो तो बहुत मेहनत करनी चाहिए। तुम खुदाई खिदमतगार हो। मैं तुमको दु:ख से छुड़ाए स्वर्ग का मालिक बनाता हूँ। मैं हूँ ही निष्काम। तुमको राजाई देकर मैं वानप्रस्थ में चला जाता हूँ। मुझे राजाई करने की तमन्ना नहीं है। तुमको राज्य देता हूँ। तुम अपना राज्य-भाग्य फिर से ले लो। तुम जानते हो हम सो देवी-देवता थे, 84 जन्म पास कर आज हम रावण की सम्‍प्रदाय बने। रावण को हमेशा जलाते हैं। रावण की कभी पूजा नहीं करते हैं। जो सुख देता है उनको पूजा जाता है। रावण का चित्र बनाया और जलाया, वह तो सदैव दु:ख देने वाला है। दु:ख देने वाले की महिमा फिर कैसे करेंगे? शिवबाबा है सुखदाता। उन पर रोज़ जाकर फूल चढ़ाते हैं। आक्यूपेशन तो कुछ भी नहीं जानते। आजकल तो अन्धश्रद्धा बहुत है।

बाबा कहते हैं जिससे तुमको स्वर्ग का सुख मिलता है ऐसे बाप को भूल नहीं जाना। फिर स्वर्ग के सुख घनेरे मिल नहीं सकेंगे। मम्मा-बाबा कहा तो स्वर्ग में तो आयेंगे परन्तु आकर नौकर चाकर बनेंगे। गीत का अर्थ भी बच्चों ने समझा। ईश्वर का बनकर इस बचपन को भूल नहीं जाना। आसुरी सन्तान से बदल तुम ईश्वरीय सन्तान बनते हो फिर दैवी सन्तान बनेंगे। यह है ईश्वरीय जन्म। इस समय तुम सेवाधारी हो। तुम हो रूहानी सोशल वर्कर। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का याद-प्यार और गुडमॉर्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) ईश्वरीय जन्म ले कोई भी अकर्तव्य नहीं करना है। सपूत बच्चा बनना है। अवगुण निकाल देवताई गुण धारण करने हैं।

2) खुदाई खिदमतगार बन रूहानी सेवा से सबको आप समान बनाना है। तीन पैर पृथ्वी लेकर रूहानी हॉस्पिटल वा कॉलेज खोल देना है। तन-मन-धन से पूरा मददगार बनना है।

वरदान:- पुराने हिसाब-किताब को समाप्त कर सम्पूर्णता का समारोह मनाने वाले बन्धनमुक्त भव
इस पराये देश में जब सभी बंधन-युक्त आत्मा बन जाते हैं तब बाप आकर स्वरूप और स्वदेश की स्मृति दिलाकर बन्धनमुक्त बनाए स्वदेश में ले जाते हैं और स्वराज्य अधिकारी बनाते हैं। तो अपने स्वदेश में चलने के लिए सब हिसाब-किताब के समाप्ति का समाप्ति समारोह मनाओ। जब अभी यह समारोह मनायेंगे तब अन्त में सम्पूर्णता समारोह मना सकेंगे। बहुतकाल के बन्धनमुक्त ही बहुतकाल के जीवनमुक्त पद को प्राप्त करते हैं।
स्लोगन:- अपने उमंग-उत्साह के सहयोग और मीठे बोल से कमजोर को शक्तिशाली बना देना ही शुभचिंतक बनना है।

BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 28 AUGUST 2018 – Aaj Ka Purusharth

To Read 27 August Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

Om Shanti
28.08.2018

★【 आज का पुरूषार्थ】★

बाबा ने कहा… 
जो बच्चा 100% निश्चयबुद्धि होगा, वो ही अपना 100% समर्पण कर अर्थात् अपना सूक्ष्म से सूक्ष्म संकल्प भी बाप को समर्पण कर सकेगा।

क्योंकि उसे बाप (परमात्मा पिता) पर निश्चय है कि बाप इस समय केवल मेरा है … और वो मुझे हर हाल में शीघ्र से शीघ्र seat पर set कर देगा अर्थात् बाप-समान seat पर set कर विश्व-परिवर्तन का कार्य करवायेगा … और वो निश्चिन्त स्थिति में स्थित रह हर उतार-चढ़ाव को easily cross कर बाप की श्रीमत को 100% follow करेगा…।

देखो, बाप तो आपको अभी की अभी सम्पन्न बना दें, परन्तु आप बच्चों को बेहद के कार्य करने है, जो आप हर रास्ते को cross करने पर ही कर सकते हो और आपको तो full उमंग-उत्साह में रहना चाहिए कि इस अन्तिम दुःख भरे समय में आपका साथी कौन बना है…! और वो आपको भी अपने समान ही दुःखहर्ता-सुखकर्ता बना रहा है…।

और बच्चे वैसे भी आपका परिवर्तन आपको बता कर नहीं होगा, अचानक ही होगा…।

इसलिए उमंग-उत्साह में रहो और जो बाप ने कहा कि कभी भी हो सकता है, तो इस बात पर भी 100% निश्चय रखो।

बस बाप भी सहज से सहज समय में आपका परिवर्तन करवाना चाहता है … बनना तो आपको ही है ना…! 
आप सभी तो मेरे वाह-वाह बच्चे हो…।

इसलिए बच्चे, खेलो … हँसों … नाचो … गाओ अर्थात् बेफिक्र रहो … खुश रहो … आबाद रहो…। अपने जीवन के हर पल को enjoy करो…। 
बस अब आनन्द ही आनन्द है…।

अच्छा। ओम् शान्ति।

【 Peace Of Mind TV 】
Dish TV # 1087 | Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 |
Jio TV |

Font Resize