Month: April 2018

TODAY MURLI 1 MAY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 1 May 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 April 2018 :- Click Here

01/05/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, you are spiritual social workers. You have to serve Bharat to make it into heaven and make the land of sorrow into the land of happiness.
Question: In which aspect do you Brahmin children become experts at the confluence age?
Answer: You have now become experts at fulfilling the desires of all human souls. Human beings desire to attain liberation or liberation-in-life and you have to fulfil that desire. You have to show everyone the path to peace. Peace is not found in the forests, but the original religion of souls is peace. Become detached from your bodies and remember the Father and you will receive the inheritance of peace and happiness.
Song: Look at your face in the mirror of your heart, o man!

Om shanti. The unlimited Father explains to His long-lost and now-found children, the ones who know the Father and have taken refuge with Him. It is said: God, I have come to seek refuge with You. Refuge is taken when the Father comes and explains to you children. Devotees seek refuge with God because, everyone here is unhappy. Bharat is the land of sorrow; they continue to cause sorrow for one another. The Father has explained that this is your gathering of swans. No one except pure children can come here. The Father explains: Children, pure Bharat is called the land of happiness. No other land can be called the land of happiness. Bharat becomes the land of happiness and Bharat becomes the land of sorrow. People of Bharat are very unhappy because they are impure. However, no one explains these things to them. The Father explains: Sannyasis are pure and they leave their homes and families but they themselves sing: The Purifier is Rama who belongs to Sita. You have now come to the Purifier Father. The one Supreme Father, the Supreme Soul, purifies the whole world. Human beings cannot purify human beings. This is the impure world; not a single person is pure. They say: O Supreme Father, Supreme Soul! Then they say that God is omnipresent. Shivohum, tattwam! (I am Shiva, and the same applies to you.) All the poor helpless people have forgotten the Father. When a person is drunk, then, even though he may have gone bankrupt, he is very deeply intoxicated with alcohol. In the same way, people don’t know that it is these vices that make them impure. This is why, in order to become pure, sannyasis leave their homes and families. However, that is the path of isolation. The Father has come here. Those who have been unhappy for half a cycle come here and take refuge. It is Maya that makes you unhappy. Everyone is greatly diseased with the five vices. Ravan has made human beings into complete devils. When this land completely becomes the land of sorrow, the Father comes and establishes the land of happiness. You are spiritual social workers. The Father makes you do service: Children, make this Bharat into heaven. Everything depends on yoga. If someone stayed in yoga very well for seven days, it would be a wonder. Generally, hardly anyone is able to stay in yoga. They remember their homes or their minds wander everywhere. “Seven days” are very well known; they hold readings of the Gita, the Bhagawad, the Granth etc. for seven days. This system is one of this confluence age. You have to stay in a bhatthi for seven days. No one should be remembered. Your yoga should be connected to the one Father alone. It is very difficult to stay in this stage constantly for seven days. The memorial of you children is also here. You are now sitting beneath the tree and doing the tapasya of Raja Yoga. There is Jagadamba and also you children. You are the ones who fulfil all the desires of all human beings for heaven, that is, you are those who give the fruit of liberation and liberation-in-life. You are experts. No one in the world knows what liberation or liberation-in-life is. They don’t know who gives it or who can make everyone in the impure world pure. Sannyasis leave their homes and families for peace and go into the forests, but they cannot find peace. The original religion of souls is peace and yet people search for it outside. No one knows that the original religion of souls is peace. (The example of the queen’s necklace.) Those are your organs, and you can make them work or not. I, the soul, detach myself from this body, just as souls become detached at night. The soul forgets everything; that is called sleep. Here, you simply sit in peace. The soul says: Having made the physical organs work, I have become tired. Achcha. Detach yourself from your body. Those are your organs to work with. Only the Father gives you this knowledgeDetachyourself and sit down. Don’t say anything. However, for how long would you sit detached in that way? You know that no one can stay without performing actions. You become detached, but you also need the benefit of that. If you only detach yourself, there would not be that much benefit. Detach yourself and remember Me and you will be benefited and receive power. The Father explains to His children: Children, this is the court of the knowledge of Indra. All of you sitting here are jewels. If anyone with a stone intellect sits here, he would spoil the atmosphere because he would not stay in remembrance of Shiv Baba. He would continue to remember his friends and relatives. You have to remember the Father constantly. This is not a common spiritual gathering. This is a big university. If an uneducated person sat in a medical college, he wouldn’t understand anything. He wouldn’t be allowed in. He wouldn’t be able to understand anything by simply observing. Nor can impure, vicious human beings understand this knowledge. This is why such people are not allowed here. If they come to class to listen to a lecture , they wouldn’t be able to understand anything. This is a university to change from dirty beings into clean and pure deities. No such beings are allowed here just like that. They cannot know the Father. The Father is incognito. You know that you have taken refuge with the unlimited Father in order to claim the inheritance of constant happiness from the Father. The Father Himself says: This body of Brahma is the last one of many births and is in its stage of retirement. This one has also studied many scriptures. I am now telling you the essence of all the Vedas and scriptures through this one. They have shown the scriptures in the hands of Brahma. They show Brahma emerging from the navel of Vishnu. It has been explained how Brahma emerges from the navel of Vishnu and how Vishnu emerges from the navel of Brahma, how Brahma and Saraswati become Lakshmi and Narayan and then, having completed their 84 births, how they become Brahma and Saraswati at the end. They have then shown Nehru emerging from the navel of Gandhiji. There is no ocean of milk here. This is the ocean of poison. They show an ocean of milk in the golden age. You children know that Maya made you unhappy for half the cycle. No other place is as unhappy as Bharat. No other place can be as happy as Bharat either. The Father says: The deity religion has to disappear. Only then do I come and once again establish the new religion. It is truly being established now. You children have come and are claiming your inheritance from the Father. You know who rules in heaven. In their childhood they are Radhe and Krishna and they then become Lakshmi and Narayan. The Father has now come. Lakshmi and Narayan are studying with different names and forms. The ugly form of Shri Krishna is sitting here. The Father takes this one across to the other side. In the scriptures, they have shown Krishna being carried in a basket across to the other side. Shiv Baba has now come. He seats you children on His eyelids and makes you into the masters of heaven. The Father teaches the whole clan and then takes them from the land of Kans to the land of Krishna. It is not a question of just one. He removes all of you from the land of Ravan, He seats you on His eyelids and takes you to the land of happiness. I have come to enable you children to reach heaven. This old world will then be destroyed. They have mentioned the war in the scriptures. However, they don’t understand anything. This Dada has also studied many scriptures. Baba says: Now forget all of them and constantly remember Me alone. I am the Satguru of all. The iron age is called the land of Kans and the golden age is called the land of Krishna. I am now taking you from the land of Ravan to the land of Rama, the land of Krishna. Will you go to the land of happiness, the land of Krishna? They sing: Chant the name of Radhe-Govinda. That is the path of devotion. You are now once again becoming Radhe and Govinda. Now you have neither of the two crowns – neither the crown of light nor of the kingdom. Only those who are pure are given a crown of light. Lakshmi and Narayan are ever pure. They never have to renounce anything. Sannyasis take birth, then renounce their homes and families in order to become pure. You have renunciation in this one birth for 21 births (of purity). They don’t become pure for 21 births. They take birth to vicious ones, they become impure and then they leave home in order to become pure. That is rajoguni renunciation. The Father says: I am knowledge-full ; k nowledge-full, blissful – I alone have the full knowledge. I give you children the full knowledge of the subtle region, the incorporeal world and the corporeal world and the beginning, the middle and the end of the world through which you become full. Deities are full. You children have come into the lap of the Father. You know that you are following shrimat and are once again claiming your fortune of the kingdom. This is a game of victory and defeat. Those who are defeated by Maya are defeated by everything. Those who conquer Maya conquer everything. You have yoga with the Almighty Authority Father, you take power from Him and gain victory over Maya. You understand that your drama of 84 births is now coming to an end. We are once again claiming our fortune of the kingdom. Lakshmi and Narayan are shown in an ocean of milk. This is the ocean of poison. Radhe and Krishna are young children. People rock Krishna in a cradle with a lot of love because they believe that he was the prince of heaven. Krishna is said to be 16 celestial degrees full and Rama 14 degrees. That same Krishna also becomes 14 degrees from 16 celestial degrees full; he has to take rebirth. Baba has explained that not everyone takes the full 84 births. Those of other religions do not take 84 births. These things have to be understood. You definitely have to receive your inheritance from the Father. He is the Creator of heaven, and so He would surely make you into the masters of heaven. That Father resides in the supreme abode. We too come from there. You have to remember Baba very well. You will receive peace by having remembrance. People ask: How can we have yoga with Supreme Soul? They become confused. You have received this full understanding. The Father comes at the confluence of the land of sorrow and the land of happiness. The end of the iron age is the land of sorrow, and the beginning of the golden age is the land of happiness. Only the Father removes you from the land of sorrow and makes you sit in the land of happiness. This is a matter of understanding. No one without purity can study this knowledge. That is why impure ones are not allowed to sit here. You have to explain: You have been greatly diseased for half the cycle. Maya has made you greatly diseased and this is why you are first kept in a bhatthi. You children know the occupation of everyone. When you go to a Shiva Temple, you understand that that Baba is the Bestower of Liberation and Salvation. Bharat is the greatest pilgrimage place. However, they have put Krishna’s name in the Gita. They have made Shiv Baba’s name disappear. Shiv Baba Himself comes and liberates everyone from sorrow. The water of the Ganges is not the Purifier. That comes from the mountains. How can that be called the Purifier? That is called blind faith. Look what human beings continue to do! It is sung that no other birth is as valuable as a human birth. Your present birth, when the Father has come, is valuable. This is your most valuable birth. You become pure and make Bharat into heaven. That is why you Shiv Shaktis, you mothers of Bharat, have been remembered. You know that, with the help of purity, Baba makes not only Bharat, but the whole world, pure. Those who give their finger of purity and who remain “Manmanabhav” are helpers. You understand the meaning of this. This Dada didn’t understand at first either. He had adopted many gurus and studied many scriptures. This is why Baba says: Constantly remember Me alone. I alone am your everything. I am the Bestower of Liberation and Liberation-in-Life. Human beings are impure. You have now come to Shiv Baba to claim your inheritance through Brahma. No one can come here without this faith. If they did, they would spread even more peacelessness. You take Bharat into supreme peace. This is the task of establishment which human beings cannot carry out. You are doing this with Shiv Baba’s help. What prize do you receive? I make you into the masters of heaven. If, after belonging to such a Baba, your intellect doesn’t have faith, Maya completely swallows you. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Renounce the old world in this one birth and become complete helpers of the Father. Give your finger of purity and remain “Manmanabhav”.
  2. Do the service of taking Bharat into supreme peace. Detach yourself from that body, stay in remembrance of the Father and take power from Him. Give the donation of peace.
Blessing: May you become equal to the Father and through your perfect form of a blessed image grant blessings to everyone.
In Bharat especially, goddesses are remembered as beings who grant blessings to everyone. However, only those who become equal to the Father and who remain close to Him become such images that grant blessings. If you are sometimes equal to the Father but not at other times and are just an effort-maker for yourself, you cannot then become an image that grants blessings because the Father does not make effort. He is constantly the Image of Perfection. When you are equal, that is, when you are in your form of perfection, you will then become one who grants blessing.
Slogan: Run fast in the race of remembrance and you will become a victorious bead in the garland around the Father’s neck.

*** Om Shanti ***

BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 30 APRIL 2018 – Aaj Ka Purusharth

To Read 29 April Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

Om Shanti
30.04.2018

★【 आज का पुरुषार्थ 】★

बच्चे, सर्व समर्पण हो जाओ … अर्थात् आप बच्चों के पास जो कुछ भी है, बुद्धि से सब बाप को सौंप दो…। 
मैं और मेरेपन में रहने वाली आत्मा ना ही ज्ञानी है … ना ही योगी … और ना ही धारणा स्वरूप बन सकती है।

यदि किसी भी आत्मा के अन्दर minor सा भी मैं और मेरापन है तो बाप-समान बनना असम्भव है। इसलिए बच्चे, मैं और मेरा … इसका त्याग करो। सूक्ष्म रीति स्वयं की checking करो और change करते जाओ … निमित्त बन कर्म-व्यवहार में आओ, तब ही आप कर्म के प्रभाव से बचे रह सकते हो…।

जब भी किसी तरह की ज़िम्मेवारी स्वयं की समझते हो तो आप उसमें फँस जाते हो … यदि उस कार्य की ज़िम्मेवारी कोई और सम्भाल लें तो आप हल्के रह अन्य कार्य कर सकते हो। 
और यहाँ तो स्वयं भगवान बाप बन, आप बच्चों की ज़िम्मेवारी उठाने आ गया … फिर आपका कर्तव्य केवल बाप के कार्य में सहयोगी बनना ही है और इतने बड़े कार्य में सहयोगी केवल ज्ञान स्वरूप … योग स्वरूप … और धारणा स्वरूप आत्मा ही बन सकती है…।

बाप के कार्य में सहयोगी आत्मा ही बाप-समान आत्मा है। जिस बच्चे को बाप पर 100% निश्चय है वो ही सर्व समर्पण हो सकता है और बाप-समान बन सकता है।

देखो बच्चे, इस समय बाप केवल आप विशेष बच्चों के कल्याण के लिए ही आपको पढ़ाने आया है … बस आप बाप पर निश्चय रखो।

देखो भक्ति में भी गायन है कि “भगवान के घर देर है, अन्धेर नहीं … जिस पर भगवान की नज़र है उसका कोई बाल भी बाँका नहीं कर सकता” … और यहाँ तो स्वयं भगवान आपका अपना बन गया … भला कभी बाप अपने सपूत बच्चों का अकल्याण देख सकता है क्या…? नहीं ना…!

फिर बाप पर निश्चय रखो और बाप की knowledge को महीनता से समझ स्वयं की checking कर change होते जाओ। 
अभी आप बच्चों को बाप का full सहयोग है, फिर तो हल्के रहो, खुश रहो और उमंग-उत्साह के साथ बाप के संग रह अपनी मंज़िल तक पहुँचो…।

जो बच्चा इस समय बाप पर 100% निश्चय रख सर्व समर्पण हो चल रहा है, उसका हर कार्य समय से पहले होगा और अत्याधिक कल्याणकारी भी … और जिस बच्चे के निश्चय में कमी है अर्थात् ‘एक बल – एक 
भरोसा’ नहीं है, उसका समय से पहले मंज़िल पर पहुँचना असम्भव है…।

अच्छा । ओम् शान्ति ।

【 Peace Of Mind TV 】
Dish TV # 1087 | Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 |
Jio TV |

BRAHMA KUMARIS MURLI 1 MAY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 May 2018

To Read Murli 30 April 2018 :- Click Here
01-05-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – तुम रूहानी सोशल वर्कर हो, तुम्हें भारत को स्वर्ग बनाने की सेवा करनी है, दु:खधाम को सुखधाम बनाना है”
प्रश्नः- संगम पर तुम ब्राह्मण बच्चे किस बात में बहुत एक्सपर्ट (तीखे) बन जाते हो?
उत्तर:- सभी मनुष्यात्माओं की मनोकामना पूर्ण करने में अभी तुम एक्सपर्ट बने हो। मनुष्यों की कामना मुक्ति और जीवन्मुक्ति पाने की है, वह तुम्हें पूर्ण करनी है। तुम सभी को शान्ति का रास्ता बताते हो। शान्ति कोई जंगल में नहीं मिलती, लेकिन आत्मा का स्वधर्म ही शान्ति है। शरीर से डिटैच हो बाप को याद करो तो सुख-शान्ति का वर्सा मिल जायेगा।
गीत:- मुखड़ा देख ले प्राणी…

ओम् शान्ति। बेहद का बाप अपने सिकीलधे बच्चों को समझा रहे हैं। जिन बच्चों ने बाप को जाना है और बाप की शरण में आये हैं। कहते हैं प्रभू तेरी शरण आये। शरण मिले तब, जबकि बाप आये और बच्चों को समझावे। भगत भगवान की शरण में आते हैं क्योंकि यहाँ सब दु:खी हैं। भारत दु:खधाम है। एक दो को दु:ख देते रहते हैं। बाप ने समझाया है यह है तुम्हारी हंस मण्डली। यहाँ पावन बच्चों बिगर कोई भी आ नहीं सकता। बाप समझाते हैं – बच्चे, पावन भारत को ही सुखधाम कहा जाता है और कोई खण्ड को सुखधाम नहीं कहेंगे। भारत ही सुखधाम और भारत ही दु:खधाम बनता है। भारतवासी बहुत दु:खी हैं क्योंकि पतित हैं। परन्तु यह बात उन्हें कोई समझाते नहीं। बाप समझाते हैं – सन्यासी पावन हैं, घरबार छोड़ते हैं, परन्तु खुद भी गाते हैं – पतित-पावन सीताराम…। अभी तुम आये हो पतित-पावन बाप के पास। जो एक ही परमपिता परमात्मा है वही सारी दुनिया को पावन बनाते हैं। मनुष्य, मनुष्य को पावन बना न सके। यह है ही पतित दुनिया। कोई भी पावन नहीं। कहते भी हैं – हे परमपिता परमात्मा। फिर कह देते ईश्वर सर्वव्यापी है। शिवोहम्, तत् त्वम्। सब बिचारे बाप को भूले हुए हैं। जैसे मनुष्य शराब पीते हैं, तो भले वह देवाला मारा हुआ हो तो भी शराब से एकदम नशा चढ़ जाता है। वैसे ही मनुष्य को यह पता नहीं पड़ता कि यह विकार ही पतित बनाते हैं, तब तो सन्यासी भी पावन बनने के लिए घरबार छोड़ते हैं। परन्तु वह है निवृत्ति मार्ग। यहाँ तो बाप आये हैं। जो आधाकल्प से दु:खी हैं वह आकर शरण लेते हैं। दु:खी करने वाली है माया। पाँच विकारों के महारोगी हैं। मनुष्य को रावण ने बिल्कुल असुर बनाया है। जब बिल्कुल दु:खधाम बन जाता है, तब फिर बाप आकर सुखधाम स्थापन करते हैं।

तुम हो रूहानी सोशल वर्कर। तुमसे बाप सेवा कराते हैं कि – बच्चे, तुम इस भारत को स्वर्ग बनाओ। सारा मदार योग पर है। योग में कोई 7 रोज अच्छी रीति रहे तो कमाल हो जाये। ऐसे कोई योग में मुश्किल टिक सकेंगे। घर याद आयेगा, मन भागता रहेगा। सात रोज़ मशहूर हैं। गीता, भागवत, ग्रन्थ का पाठ भी 7 रोज रखते हैं। यह रस्म-रिवाज इस संगमयुग की है। सात रोज़ भट्ठी में रहना पड़े। किसकी भी याद न आवे। एक बाप के साथ योग लगा रहे। सात रोज़ इस एकरस अवस्था में रहना – यह बड़ा मुश्किल है। तुम बच्चों के यादगार भी यहाँ ही हैं। तुम अभी झाड़ के नीचे बैठकर राजयोग की तपस्या करते हो। जगत अम्बा भी है तो तुम बच्चे भी हो। तुम हो सभी मनुष्यों की सर्व मनोकामनायें स्वर्ग में पूरी करने वाले अथवा मनुष्यों को मुक्ति-जीवन्मुक्ति का फल देने वाले। तुम एक्सपर्ट हो। दुनिया में कोई नहीं जानते कि मुक्ति-जीवन्मुक्ति किसको कहा जाता है? कौन देते हैं? पतित दुनिया में कौन पावन बना सकते हैं? सन्यासी लोग शान्ति के लिए घरबार छोड़ते हैं। जंगल में जाते हैं, परन्तु शान्ति तो मिल नहीं सकती। आत्मा का स्वधर्म है शान्त और मनुष्य बाहर ढूँढ़ते हैं। यह किसको पता नहीं कि आत्मा का स्वधर्म शान्त है। (रानी के हार का मिसाल) यह आरगन्स हैं, चाहे कर्मेन्द्रियों से काम लो या न लो। हम आत्मा इस शरीर से अपने को डिटैच कर लेते हैं। जैसे रात को आत्मा डिटैच हो जाती है ना। सब कुछ भूल जाती है। उसको फिर नींद कहेंगे। यहाँ सिर्फ शान्ति में तुम बैठते हो। आत्मा कहती है मैं कर्मेन्द्रियों से काम कर थक गयी हूँ। अच्छा, अपने को शरीर से डिटैच कर लो। यह आरगन्स हैं कर्म करने के लिए। यह नॉलेज बाप ही देते हैं। डिटैच कर बैठ जाओ, कुछ न बोलो। परन्तु ऐसे डिटैच हो कहाँ तक बैठेंगे? यह तो तुम जानते हो कर्म बिगर कोई रह न सके। डिटैच तो हुए परन्तु साथ में फायदा भी चाहिए। सिर्फ डिटैच हो बैठने से इतना फ़ायदा नहीं होगा। डिटैच हो फिर मुझे याद करो तो तुमको फायदा होगा, शक्ति मिलेगी। बाप अपने बच्चों को समझाते हैं – बच्चे, यह ज्ञान-इन्द्र-सभा है। यहाँ तुम सब रत्न बैठे हो। कोई पत्थर-बुद्धि बैठा होगा तो वायुमण्डल खराब कर देगा क्योंकि शिवबाबा की याद में रहेगा नहीं। उनको अपने मित्र-सम्बन्धी याद पड़ते रहेंगे। तुमको तो अपने बाप को निरन्तर याद करना है। यह कोई कॉमन सतसंग नहीं है। यह बड़ी युनिवर्सिटी है। मेडिकल कॉलेज में कोई अनपढ़ आकर बैठे तो कुछ नहीं समझेगा। उनको तो एलाउ नहीं करेंगे। सिर्फ देखने से कुछ समझ नहीं सकेंगे। इस नॉलेज को भी विकारी पतित समझ न सके, इसलिए ऐसे को एलाउ नहीं किया जाता है। कोई कहे कि हम क्लास में आवें, लेक्चर सुनें? परन्तु इससे कुछ समझ नहीं सकेगा। यह युनिवर्सिटी है – मलेच्छ से स्वच्छ देवता बनने के लिए। यहाँ ऐसे कोई को एलाउ नहीं किया जाता है। बाप को तो जान न सके। बाप है गुप्त। तुम जानते हो बेहद के बाप की शरण में आये हैं – बाप से सदा सुख का वर्सा लेने। बाप खुद कहते हैं यह ब्रह्मा का जो शरीर है यह बहुत जन्मों के अन्त का वानप्रस्थ वाला है। यह भी बहुत शास्त्र आदि पढ़ा हुआ है। अभी मैं सब वेद-शास्त्रों का सार इन द्वारा सुनाता हूँ। ब्रह्मा के हाथ में शास्त्र दिखाते हैं। विष्णु की नाभी-कमल से ब्रह्मा निकला। समझाया है विष्णु की नाभी-कमल से ब्रह्मा, ब्रह्मा की नाभी-कमल से विष्णु निकला है। ब्रह्मा-सरस्वती दोनों कैसे नारायण-लक्ष्मी बनते हैं। फिर 84 जन्म पूरा कर अन्त में ब्रह्मा सरस्वती बनते हैं। उन्होंने फिर गाँधी की नाभी-कमल से नेहरू दिखाया है। अभी यहाँ तो क्षीरसागर है नहीं। यह है विषय सागर। क्षीरसागर सतयुग में दिखाते हैं।

तुम बच्चे जानते हो – आधाकल्प से माया ने दु:खी बनाया है। भारत जितना दु:खी और कोई नहीं है। भारत जितना सुखी भी और कोई हो नहीं सकता। बाप कहते हैं देवी-देवता धर्म तो प्राय: लोप होना ही है। तब तो मैं आकर फिर से नया धर्म स्थापन करूं। बरोबर अब स्थापन हो रहा है। तुम बच्चे आकर बाप से वर्सा ले रहे हो। जानते हो स्वर्ग में कौन राज्य करते हैं। बचपन में राधे-कृष्ण वही फिर लक्ष्मी-नारायण बनते हैं। अब तो बाप आया हुआ है। भिन्न नाम-रूप से लक्ष्मी-नारायण पढ़ते हैं। श्रीकृष्ण का साँवरा रूप यहाँ बैठा है। बाप इसको उस पार ले जाते हैं। शास्त्रों में दिखाते हैं कृष्ण को टोकरी में उस पार ले गये। अब शिवबाबा आया हुआ है। तुम बच्चों को ऑखों पर बिठाकर स्वर्ग का मालिक बनाते हैं। सारी वंशावली को पढ़ा कर बाप ले जाते हैं – कंसपुरी से कृष्णपुरी में। एक की तो बात नहीं है। रावणपुरी से तुम सबको निकाल, नयनों पर बिठाकर सुखधाम ले जाता हूँ। मैं तुम बच्चों को स्वर्ग तक पहुँचाने आया हूँ। फिर इस पुरानी दुनिया का विनाश हो जायेगा। लड़ाई की बात भी शास्त्रों में है। परन्तु समझते कुछ भी नहीं हैं। यह दादा भी बहुत शास्त्र पढ़ा हुआ था। अब बाबा कहते हैं इन सबको छोड़ मामेकम् याद करो। मैं सबका सद्गुरू हूँ। कंसपुरी कलियुग को, कृष्णपुरी सतयुग को कहा जाता है। अब तुमको रावणपुरी से रामपुरी वा कृष्णपुरी में ले चलता हूँ। चलेंगे सुखधाम कृष्णपुरी में? गाते हैं ना – भजो राधे-गोविन्द.. यह हुआ भक्ति मार्ग। अभी तुम राधे-गोविन्द फिर से बन रहे हो। अभी तुम्हारा दोनों ताज नहीं रहा है – न लाइट का, न राजाई का। पवित्र को ही लाइट का ताज देते हैं। लक्ष्मी-नारायण तो हैं ही सदा पवित्र। उनको कभी सन्यास नहीं करना पड़ता है। सन्यासी जन्म लेकर फिर घरबार छोड़ते हैं पवित्र बनने के लिए। तुम्हारा 21 जन्मों के लिए यह एक जन्म का सन्यास होता है। वह कोई 21 जन्म पवित्र नहीं होते हैं। वह पहले तो विकारियों के पास जन्म ले पतित बन जाते फिर पवित्र बनने लिए घरबार छोड़ते हैं। वह है रजो-गुणी सन्यास। बाप कहते हैं मैं नॉलेजफुल हूँ। नॉलेजफुल, ब्लिसफुल… मेरे में ही फुल नॉलेज है। सूक्ष्मव-तन, मूलवतन, स्थूलवतन और सृष्टि के आदि-मध्य-अन्त की फुल नॉलेज तुम बच्चों को देता हूँ, जिससे तुम फुल बनते हो। देवी-देवतायें हैं ही फुल। तुम बच्चे बाप की गोद में आये हो। जानते हो हम श्रीमत पर चल फिर से राज्य-भाग्य लेते हैं। यह हार-जीत का खेल है। माया से हारे हार है, माया से जीते जीत है। तुम सर्वशक्तिमान बाप से योग लगाकर, शक्ति ले माया पर विजय पाते हो। समझते हो – हमारा 84 जन्मों का ड्रामा अब पूरा होता है। हम फिर से राज्य-भाग्य लेते हैं। लक्ष्मी-नारायण को क्षीरसागर में दिखाते हैं। यह है विषय सागर। राधे-कृष्ण तो छोटे बच्चे थे। कृष्ण को बहुत प्यार से झूले में झुलाते हैं। समझते हैं – वह स्वर्ग का प्रिन्स है। कृष्ण को 16 कला कहा जाता है, राम को 14 कला। वही कृष्ण फिर 16 कला से 14 कला बनते हैं। पुनर्जन्म तो लेना पड़े ना। बाबा ने समझाया है – पूरे 84 जन्म तो सब नहीं लेते होंगे। और धर्म वाले 84 जन्म नहीं लेंगे। समझने की बातें हैं। फादर से वर्सा जरूर मिलना चाहिए। वह है स्वर्ग का रचयिता। तो जरूर स्वर्ग का मालिक ही बनायेंगे। वह फादर परमधाम में रहते हैं। हम भी वहाँ से आते हैं। बाबा को अच्छी रीति याद करना है। याद से शान्ति मिलेगी। मनुष्य तो कहते हैं – परमात्मा से योग कैसे लगायें? मूँझ पड़ते हैं। तुमको तो सब समझ मिली है।

बाप आते ही हैं दु:खधाम और सुखधाम के संगम पर। कलियुग अन्त है दु:खधाम, सतयुग आदि है सुखधाम। दु:खधाम को बदल सुखधाम में बाप ही बिठायेंगे। इतनी ही समझ की बात है। यह पढ़ाई पवित्रता के बिगर कोई पढ़ न सके इसलिए यहाँ पतित को नहीं बिठाया जाता है। समझाना है – तुम आधा कल्प के महारोगी हो। माया ने महारोगी बनाया है इसलिए पहले भट्ठी में रखा जाता है। तुम बच्चे हरेक के आक्यूपेशन को जान गये हो। शिव के मन्दिर में जायेंगे तो समझ जायेंगे – यह बाबा गति-सद्गति दाता है। सबसे बड़ा तीर्थ भी भारत है। परन्तु गीता में कृष्ण का नाम डाल दिया है। शिवबाबा का नाम गुम कर दिया है। शिवबाबा ही आकर सबको दु:ख से छुड़ाते हैं। बाकी पानी की गंगा तो पतित-पावनी है नहीं। वह तो पहाड़ों से निकली है। उसको पतित-पावनी कैसे कहेंगे। इसको अन्धश्रद्धा कहा जाता है। मनुष्य क्या-क्या करते रहते हैं। गाते हैं – मनुष्य जैसा दुर्लभ जन्म है नहीं। सो दुर्लभ जन्म तुम्हारा अभी का है जबकि बाप आया हुआ है। यह तुम्हारा अमूल्य जन्म है। तुम पवित्र बन भारत को स्वर्ग बना देते हो इसलिए शिव-शक्ति भारत-माता गाई हुई है। तुम जानते हो – बाबा पवित्रता की मदद से भारत तो क्या, सारी दुनिया को पवित्र बनाते हैं। जो-जो पवित्रता की अंगुली देते हैं, मनमनाभव रहते हैं, वही मददगार हैं। इसका अर्थ भी तुम समझते हो। यह दादा भी नहीं समझते थे। इनके बहुत गुरू किये हुए हैं। शास्त्र पढ़े हुए हैं। तब बाबा कहते हैं मामेकम् याद करो। मैं ही तुम्हारा सब कुछ हूँ। गति-सद्गति दाता हूँ। मनुष्य तो पतित हैं। अब तुम आये हो शिवबाबा के पास, ब्रह्मा द्वारा वर्सा लेने। इस निश्चय बिगर कोई आ न सके। आकर और ही अशान्ति फैला देंगे। तुम भारत को सुप्रीम शान्ति में ले जाते हो। यह है स्थापना का कार्य, जो मनुष्य कर न सके। तुम भी शिवबाबा की मदद से कर रहे हो। तुमको भी प्राइज़ क्या मिलती है? स्वर्ग के मालिक बनते हो। ऐसे बाबा के बनते भी फिर निश्चय-बुद्धि नहीं हैं तो माया एकदम हप कर लेती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस एक जन्म में पुरानी दुनिया से सन्यास कर बाप का मददगार बनना है। पवित्रता की अंगुली देनी है और मनमनाभव रहना है।

2) भारत को सुप्रीम शान्ति में ले जाने की सेवा करनी है। इस शरीर से डिटैच हो बाप की याद में रहकर शक्ति लेनी है। शान्ति का दान देना है।

वरदान:- सदा बाप समान बन अपने सम्पन्न स्वरूप द्वारा सर्व को वरदान देने वाले वरदानी मूर्त भव
भारत में विशेष देवियों को वरदानी के रूप में याद करते हैं। लेकिन ऐसे वरदानी मूर्त वही बनते हैं जो बाप के समान और समीप रहने वाले हों। अगर कभी बाप समान और कभी बाप समान नहीं लेकिन स्वयं के पुरुषार्थी हैं तो वरदानी नहीं बन सकते क्योंकि बाप पुरुषार्थ नहीं करता वो सदा सम्पन्न स्वरूप में है। तो जब समान अर्थात् सम्पन्न स्वरूप में रहो तब कहेंगे वरदानी मूर्त।
स्लोगन:- याद की तीव्र दौड़ी लगाओ तो बाप के गले का हार, विजयी मणके बन जायेंगे।

BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 29 APRIL 2018 – Aaj Ka Purusharth

To Read 28 April Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

Om Shanti
29.04.2018

★【 आज का पुरुषार्थ 】★

बच्चे, बाबा स्वयं आकर पुरूषार्थ कराता है और यह पुरूषार्थ बहुत ही जल्दी finish होने वाला है और सभी अपने पुरूषार्थ के according अपनी-अपनी seat पर set होंगे…।

जो बच्चे बाप की पढ़ाई को बुद्धि द्वारा समझ सम्पूर्ण रीति धारण करेंगे वो ही सम्पूर्ण बनेंगे … इसलिए बाबा बार-बार कहता है कि श्रीमत् अर्थात् पढ़ाई की महीनता को समझ धारण करो…।
फिर बहुत सहज ही अपनी मंज़िल तक पहुँच जाओगे।

इसके लिए ज्यादा कुछ नहीं करना – जैसे एक छोटा बच्चा अपने पिता के कहे अनुसार उनकी अंगुली पकड़ चलता रहता है।
कोई question नहीं…, कोई complaint नहीं…, बस पिता से प्यार होने के कारण, सम्पूर्ण निश्चय है इसलिए वह किसी भी रास्ते की चिंता किए बिना बाप की अंगुली पकड़ चलता जा रहा है…।

इसी तरह हमें भी बाप की श्रीमत रूपी अंगुली पकड़ बेफिक्र हो खुशी-खुशी चलना है। बस हमारे लक्ष्य तक पहुँचाने का कार्य बाप का है…।

बच्चे, अब अपने देह से ममत्व मत रखो … यह बिल्कुल तमोप्रधान तन है। बस आप निमित्त बन इसकी सम्भाल करो परन्तु इसमें फँसो मत … स्वयं को 100% बंधनमुक्त बनाओ।

किसी भी स्थूल धारणाओं के लिए भी ज्यादा rigid मत बनो…। 
सूक्ष्म धारणाओं की तरफ ध्यान दो अर्थात् स्वयं के स्वभाव-संस्कार को परिवर्तन करो…।

आप बच्चों को 100% बाप की याद में अर्थात् किसी ना किसी विधि द्वारा बाप के संग का अनुभव करने का पुरूषार्थ करना है। आप बच्चों को हठयोगी नहीं सहजयोगी बनना है।

सहजयोगी आत्मा ही हल्की और खुश रह सकती है। सहजयोगी अर्थात् बाप की याद में … बाप से रूह-रिहान में … या बाप को संग रखने में खुशी का अनुभव करना।

बस आपका यह attention रहे कि मैं बाप की श्रीमत प्रमाण अर्थात् मेरी मनसा-वाचा-कर्मणा बाप की श्रीमत प्रमाण हैं…? जितना आप बाप की श्रीमत प्रमाण चलोगे उतना ही आपको double light अर्थात् प्रकाशमय और हल्केपन का अनुभव होगा।

बस इसके लिए knowledgeful बनना है … knowledgeful आत्मा ही powerful बन सकती है और धारणा स्वरूप भी…।

बस आपका 100% attention केवल स्वयं पर होना चाहिए। कोई आत्मा कुछ भी बोल रही है या कर रही है उसे आप बाप हवाले कर दो या फिर बाबा की श्रीमत् प्रमाण उसके साथ loveful और lawful होकर चलो … परन्तु आप बच्चों की भावना अर्थात् intention उसके प्रति बहुत शुभ और कल्याण की होनी चाहिए। 
इसलिए अब जल्दी करो … जल्दी करो … अपना कर्तव्य संपन्न कर बच्चे, मेरी बाहों में समा जाओ…।

अच्छा । ओम् शान्ति ।

【 Peace Of Mind TV 】
Dish TV # 1087 | Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 |
Jio TV |

TODAY MURLI 30 APRIL 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 30 April 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 29 April 2018 :- Click Here

30/04/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the happiness of this iron-aged world is like the droppings of a crow. This world is now about to go and you must therefore have no attachment to it. Remove your attachment from it.
Question: Which children cannot connect the love of their hearts to this old world?
Answer: Those who are obedient, faithful and have faith in their intellects cannot have love in their hearts for this old world because it is in their intellects that this world is about to be destroyed. This is a game of magic; it is pomp of Maya. It now has to be destroyed. Dams will burst, there will be earthquakes, the ocean will swallow the land. All of this is to happen; it is nothing new. If you remember your sweet home and sweet kingdom, your heart cannot be attached to this world.
Song: What can storms do to those whose Companion is God?

Om shanti. This is a song based on faith. When you belong to the Father and He comes, He comes and becomes our Companion. You children know that the storms of destruction come when the Father comes. The Father comes to destroy the old world and establish the new world. There will be earthquakes and the ocean from below will swallow the land and the rain from above will swallow the land. All of this is to happen. They have just created the song. You children, who are the decoration of the Brahmin clan, know that the old world truly is to be destroyed. The Father has come to establish the new world. He makes Brahmins into the masters of the whole world. He enables the old world to be destroyed and gives you children the kingdom of the whole world as your inheritance. You know that you receive the inheritance from the Father of becoming masters of the new world. This old world is of no use. People think that heaven is now created, but all of that is the splendour of Maya. All of those things are just glitter (gilded). The whole kingdom is like rolled gold. It is like a mirage and people become happy with that. Earlier, when it was the kingdom of the Muslims, there weren’t any aeroplanes or motors etc. All of this is the splendour of Maya. They make so many plans. You children know that all of this is to be destroyed. There will be earthquakes and dams will burst with flood water everywhere. People think that all of these things will bring happiness, but they will all only bring sorrow. These aeroplanes are also such that they cause sorrow; bombs will be dropped from them. Children forget all these things and this is why their hearts become attached to the old world. Those who are obedient, faithful and complete helpers of the Father, those whose intellects have total and firm faith know that whatever happens, none of those things are new. The destruction of the old world has taken place many times before and it will definitely happen again. Those people think that many new things are being invented and that heaven is being created. However, only you children know that all of this is a game of magic. Just as when they polish old gold and make it shine, in the same way they paint this old world and make it beautiful. They continue to make plans for this everywhere. They are not even aware that destruction is going to take place. Only you Brahmins know that the old world is to be destroyed. People say: This old world will be destroyed and then God will come and establish the new world. First of all, He will create Brahma and then the human world will be created through him. However, they don’t know when that will happen. The Father sits here and explains to only you children. Shrimat is from God. When you speak of shrimat, it should be understood that these are the elevated directions of God alone. Shrimat cannot be said to be of Brahma or Vishnu. Human beings don’t know how God comes and gives shrimat through the body of Brahma. Since they think that he is a resident of the subtle region, they don’t understand how Brahma comes down here. Therefore, because of not knowing any of these things, they have mentioned Krishna’s name. It is not possible for Krishna to have an ordinary form for God to enter him. No one knows these things. The father says: I too adopted many gurus but I didn’t know anything. I forgot who had given shrimat. The incorporeal One is the most elevated of all and shrimat is from Him. People say: Salutations to Shiva. His praise is limitless. Only you children know these things. It takes so much effort to make all of these things sit in someone’s intellect. Devotees now need God’s directions. This is fixed in the drama. The God of the Gita came and gave the devotees directions. So, how can devotees be uplifted? Devotees say that God is omnipresent. If devotees are God, just what would their condition be? The Father sits here and explains that God is just the One and that He comes to protect the devotees. At this time, all human beings are in Ravan’s cottage of sorrow. No human being, sage or holy man etc. can give you protection. God has to protect the devotees. People don’t know that they are living in the impure world of hell. Heaven is called the pure world. Only a handful out of multimillions will understand these things. Only you long-lost and now-found children of the previous cycle will come. You become long-lost and now-found every cycle. Some become this completely and some are eaten raw by Maya. Because they don’t remember the Father, the vices quickly come to them. When the first vice of body consciousness comes, there would then be a desire for the others too. This is why the Father says: Become soul conscious, because everyone has to return home. Here, there is nothing but sorrow. The happiness of the iron-aged world is like the droppings of a crow. Sannyasis say this and you also understand it. You children know heaven and hell. There is no happiness in hell. To have attachment to anyone in hell is to destroy your own status. Do not be attracted to anything. You should explain that this old world is to end. This world is of no use. When body consciousness comes, your heart first becomes attached to someone. Those who are soul conscious will remain beyond this old world. Their renunciation is limited whereas your renunciation is unlimited. We forget this old world; it is one that causes total sorrow. However, there is only a little more for us to do in this world, for it is almost finished. Otherwise, you are guests for only a few more days. So Brahmins themselves say: We are guests for a few days in this old world. We will go to our sweet home and sweet kingdom and experience happiness there. We now have to leave. This old world is to become a graveyard. Therefore, forget everything including your body. These bodies are old shoes that have to be renounced. You have to stay in yoga. Your lifespan will increase by staying in yoga and you will claim your inheritance from the Father. The lifespan of those who are body conscious cannot increase. They have love for bodies. If someone’s body is beautiful, he or she has love for the body. They would massage it very well just as they polish vessels. The more you stay in yoga, the more the soul will become worthy of claiming a new vessel. No matter how much soap, Vaseline, powder etc. you put on a body, it is still an old body. No matter how much you repair an old building, it still looks like a derelict building and this body is also like that. If you talk to yourself in this way, your heart will be attached to the Father and the inheritance. You mustn’t attach your heart to anything else. I am a soul and I am going to go to the Father. By remembering the Father, you will continue to benefit and your lifespan will continue to increase. The soul understands: I am becoming pure with the power of yoga. This body of mine is of no use. Even though sannyasis remain pure, their bodies are still impure. Here, no one’s body can be pure. There, their bodies are not created with poison. Only you children know these things. If creation took place in heaven through vice, why would it be called viceless? There, both souls and bodies are pure. You know that, at this time, even the five elements are iron aged and so you receive bodies accordingly. There is then illness etc. Your bodies there cannot become ill. All of these things have to be understood. Your bodies there are new. The elements become satopradhan. There is no medicine etc. there. The bodies shine all the time. Their bodies become as pure as gold. Now, they are like iron. It is a wonder how the body changes even though it is not polished. The body really does become as pure as gold and that is called golden aged. Their bodies are not of gold. Lakshmi and Narayan are called the Lord and Lady of Divinity. Look how satopradhan their bodies are. They are praised so much. Now, even these five elements are tamopradhan. Bodies here are created with poison. There, it is a matter of the power of yoga. Children will definitely be viceless in heaven. Lust, the great enemy, doesn’t exist there. The Father says: This lust causes you sorrow from its beginning through the middle to the end. That is called the completely viceless world and this is called the completely vicious world. All have these five evil spirits in them. You can gain victory over these five evil spirits when you have yoga with the Almighty Authority Father for, with this power of yoga, you become the masters of the world. Therefore, you are the incognito Shiv Shakti Army. The army is having yoga with Shiv Baba and receiving power. That Almighty Authority Father is the one God f ather who establishes the kingdom of heaven. He comes to make you into the masters of heaven. You are now not worthy of heaven. I come every cycle and make you children worthy of ruling the kingdom of heaven. You are now masters of hell. People say: So-and-so died and became a resident of heaven. They don’t understand at all that they are in hell. In fact, no one knows about heaven. It is said: This is heaven for those who have a lot of wealth and prosperity. Oh! but there are so many illnesses etc. So, how could this place be called heaven? The golden age is called heaven. There is no heaven in the iron age. The Father has explained that this is the vicious world. Every woman is Draupadi and Parvati. The Lord of Immortality is telling every woman the story of immortality. Every Draupadi will be saved from being stripped. The unlimited Father sits here and explains these things. That is the viceless world, the totally viceless world where there is no vice at all. A soul comes and enters a womb and it is completely pure at that time. The soul that comes is pure and he therefore doesn’t experience any punishment in the womb. Here, everyone receives punishment. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Consider yourself to be a guest in this world. Become soul conscious and remain beyond the old world and your old body.
  2. Cleanse the soul and the vessel, the body, with yoga. These bodies are of no use. Therefore, don’t have attachment to them.
Blessing: May you constantly have the fortune of happiness and fill all souls with all the treasures from your treasure of happiness.
Those who remain constantly happy are said to have the fortune of happiness and they fill many other souls with all treasures from with their treasure of happiness. Nowadays, everyone has a special need for the treasure of happiness; they have everything else but do not have happiness. All of you have found the mine of happiness. You have a variety of the treasures of happiness. Simply become a master of this treasure and usewhatever you have received for yourself and for everyone else and you will experience yourself to be full of all treasures.
Slogan: To transform wasteful feelings of other souls into elevated feelings is true service.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 30 APRIL 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 April 2018

To Read Murli 29 April 2018 :- Click Here
30-04-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – इस कलियुगी दुनिया का सुख काग विष्टा के समान है, यह दुनिया अब गई कि गई इसलिए इससे लगाव नहीं रखना है, आसक्ति निकाल देनी है”
प्रश्नः- किन बच्चों की दिल इस पुरानी दुनिया से नहीं लग सकती है?
उत्तर:- जो आज्ञाकारी, वफादार, निश्चयबुद्धि बच्चे हैं उनकी दिल इस पुरानी दुनिया से लग नहीं सकती क्योंकि उनकी बुद्धि में रहता यह तो विनाश हुई कि हुई। यह तिलसम (जादू) का खेल है, माया का भभका है। इसका अब विनाश होना ही है। डैम फटेंगे, अर्थक्वेक होगी, सागर धरनी को हप करेगा…. यह सब होना है, नथिंगन्यु। स्वीट होम, स्वीट राजधानी याद है तो इस दुनिया से दिल नहीं लग सकती।
गीत:- जिसका साथी है भगवान…

ओम् शान्ति। यह निश्चय के ऊपर गीत है। जब बाप का बनते हैं वा बाप आते हैं तो वह आकर हमारा साथी बनते हैं। बच्चे जानते हैं बाप जब आते हैं तब ही विनाश के तूफान होते हैं। बाप आते हैं पुरानी दुनिया को खलास कर नई दुनिया स्थापन करने। अर्थक्वेक होगी, समुद्र नीचे से धरती को खा जायेगा, बरसात ऊपर से धरती को खा जायेगी। यह सब होना ही है। गीत तो उन्होंने ऐसे ही बैठ बनाये हैं। तुम ब्राह्मण कुल भूषण बच्चे जानते हो बरोबर पुरानी दुनिया का विनाश होना है। बाप आये ही हैं नई दुनिया की स्थापना करने। ब्राह्मणों को सारे विश्व का मालिक बनाते हैं। पुरानी दुनिया का विनाश कराए फिर सारे विश्व की राजाई बच्चों को वर्से में देते हैं। तुम जानते हो बाप से नये विश्व के मालिकपने का वर्सा मिलता है। यह पुरानी विश्व तो कोई काम की नहीं है। मनुष्य समझते हैं अब तो स्वर्ग बनता जा रहा है। परन्तु यह सब है माया का भभका। सब चीज़ मुलम्मे की है, सारा राज्य मुलम्मे का है। रूण्य के पानी (मृगतृष्णा) समान है, इसमें मनुष्य खुश होते हैं। आगे जब मुसलमानों का राज्य था तो यह एरोप्लेन, मोटरें आदि थोड़ेही थी। यह सब माया का भभका है। कितने प्लैन्स बनाते हैं। बच्चे जानते हैं यह सब विनाश होने हैं। अर्थक्वेक होगी, यह डैम्स आदि सब पानी ही पानी कर देंगे। मनुष्य समझते हैं इससे सुख मिलेगा, परन्तु इन सबसे दु:ख ही मिलेगा। यह एरोप्लेन भी दु:खदाई बन पड़ेंगे, बाम्ब्स गिरायेंगे। तो बच्चे यह सब बातें भूल जाते हैं इसलिए पुरानी दुनिया में दिल लग जाती है। जो बाप के आज्ञाकारी, वफादार, पूरे मददगार बच्चे बनते हैं, पक्के निश्चयबुद्धि हैं वह तो जानते हैं कि कुछ भी हो, यह कोई नई बात नहीं है। यह तो अनेक बार पुरानी दुनिया का विनाश हुआ है, सो अब होना है जरूर। वह समझते हैं बहुत नई-नई चीज़ें बन रही हैं, स्वर्ग बन रहा है और तुम बच्चे सिर्फ जानते हो कि यह तो तिलसम (जादू) का खेल है। जैसे कोई पुराने सोने को रंग रूप लगाकर चमकदार बना देते हैं, वैसे इस पुरानी दुनिया को भी रंग रूप देकर चमकदार बनाने के सब तरफ प्लैन्स बनाते रहते हैं। उनको यह पता ही नहीं है कि विनाश होना है। यह तो तुम ब्राह्मण ही जानते हो कि यह पुरानी दुनिया विनाश होनी है।

मनुष्य तो कह देते हैं कि यह पुरानी दुनिया विनाश होगी फिर नई दुनिया भगवान आकर स्थापन करेंगे। पहले ब्रह्मा को रचेंगे, फिर उनसे मनुष्य सृष्टि पैदा होगी। सो तो पता नहीं कब होगा। यह सिर्फ तुम बच्चों को बाप बैठ समझाते हैं। भगवान की है श्रीमत। अब श्रीमत जब कहा जाता है तो जरूर समझना चाहिए यह तो ऊंच भगवान की ही मत है। श्रीमत ब्रह्मा की वा विष्णु की नहीं कहते हैं। भगवान आकर ब्रह्मा तन से श्रीमत कैसे देते हैं – यह मनुष्य नहीं जानते हैं। वह समझते नहीं – ब्रह्मा फिर नीचे कैसे आता है, वह तो है सूक्ष्मवतनवासी। तो इन सब बातों को न जानने के कारण कृष्ण का नाम दे दिया है। ऐसे भी नहीं हो सकता कि कृष्ण का कोई साधारण रूप है जिसमें परमात्मा प्रवेश करते हैं। यह बातें कोई नहीं जानते। बाप कहते हैं हमारे भी बहुत गुरू किये हुए थे, परन्तु कुछ पता नहीं था। भूले हुए थे कि श्रीमत किसकी है? श्रेष्ठ ते श्रेष्ठ तो है निराकार, उनकी ही श्रीमत है। शिवाए नम: कहते हैं ना। उनकी महिमा अपरमअपार है। इन बातों को तुम बच्चे ही जानते हो। यह सब बातें किसको बुद्धि में बिठाने में कितनी मेहनत लगती है!

अब भक्तों को भगवान की मत चाहिए। यह तो ड्रामा में नूंध है। गीता के भगवान ने आकर भक्तों को मत दी है। तो भक्तों का उद्धार कैसे हो, भक्त फिर कह देते हैं भगवान सर्वव्यापी है। भक्त ही भगवान हैं तो बताओ उन्हों का क्या हाल होगा। अब बाप बैठ समझाते हैं कि भगवान एक है, वह आते ही हैं भक्तों की रक्षा करने। इस समय मनुष्य सब रावण की शोकवाटिका में हैं। कोई भी मनुष्य साधू सन्त आदि रक्षा नहीं कर सकते हैं। भक्तों की रक्षा भगवान को करनी है।

मनुष्य यह नहीं जानते हैं कि हम पतित दुनिया नर्क में निवास कर रहे हैं। पावन दुनिया स्वर्ग को कहा जाता है। यह बातें समझेंगे फिर भी कोटों में कोई। कल्प पहले वाले सिकीलधे बच्चे ही आयेंगे। कल्प-कल्प तुम सिकीलधे बनते हो फिर कोई तो पूरा बनते हैं, कोई को तो माया कच्चा ही खा जाती है। बाप को याद न करने से झट विकार आ जाते हैं। पहला-पहला विकार देह-अहंकार आया तो फिर औरों की भी चेष्ठा होगी, इसलिए बाप कहते हैं देही-अभिमानी बनो क्योंकि सबको वापिस जाना है। यहाँ तो दु:ख ही दु:ख है। कलियुगी दुनिया का सुख काग विष्टा के समान है। यह तो सन्यासी भी कहते हैं और तुम भी समझते हो। नर्क और स्वर्ग को तुम बच्चे जानते हो। नर्क में तो कोई सुख नहीं। नर्क में कोई से भी लगाव रखना अपना पद भ्रष्ट करना है। कोई भी चीज़ में आसक्ति नहीं रखनी है। समझाना चाहिए यह तो पुरानी दुनिया खत्म होने वाली है। यह दुनिया कोई काम की नहीं है। पहले-पहले देह-अभिमान आने से उनके साथ दिल लगती है। देही-अभिमानी फिर इस पुरानी दुनिया से जैसे उपराम रहेंगे। वह होता है हद का वैराग्य, यह है बेहद का वैराग्य। हम इस पुरानी दुनिया को भूलते हैं, यह बिल्कुल ही दु:ख देने वाली है। इनसे बाकी थोड़ा सा काम लेना है, यह गई कि गई। बाकी दो घड़ी के हम मेहमान हैं। तो ब्राह्मण ही कहते हैं कि हम पुरानी दुनिया में दो घड़ी के मेहमान हैं। हम अपने स्वीट होम, स्वीट राजधानी में आकर सुख भोगेंगे, अब हमको जाना है। यह पुरानी दुनिया कब्रिस्तान होनी है इसलिए देह सहित सब कुछ भूल जाना है। यह शरीर पुरानी जुत्ती है, इसको अब छोड़ना है, योग में रहना है। योग में रहने से आयु बढ़ेगी तो हम बाप से वर्सा लेंगे। देह-अभिमानी की आयु बढ़ नहीं सकती। उनका देह से प्यार हो जाता है। कोई का शरीर अच्छा है तो देह से प्यार होता है। अच्छी रीति मलते रहेंगे, जैसे बर्तन मले जाते हैं। जितना तुम योग में रहेंगे उतना आत्मा प्योर होती जायेगी फिर लायक बनेंगे – नया बर्तन लेने के। हम शरीर को भल कितना भी साबुन, वैसलीन, पाउडर आदि लगायें फिर भी पुराना शरीर है ना। पुराने मकान को कितना भी मरम्मत करो तो भी जैसे खण्डहर है, तो यह शरीर भी ऐसे है। अपने से ऐसी-ऐसी बातें करेंगे तब बाप और वर्से से दिल लगेगी और कोई चीज़ से दिल नहीं लगानी है। मैं आत्मा हूँ, बाप के पास जाने वाली हूँ। बाप को याद करने से फ़ायदा होता रहता है। आयु बढ़ती रहती है। आत्मा समझती है – मैं योगबल से प्योर होती जाती हूँ। यह मेरा शरीर कोई काम का नहीं है। भल सन्यासी पवित्र रहते हैं परन्तु शरीर तो फिर भी पतित है ना। यहाँ कोई का भी शरीर शुद्ध नहीं हो सकता। वहाँ शरीर विष से नहीं बनता। यह बातें तुम बच्चे ही जानते हो। अगर स्वर्ग में भी विकारों से ही पैदाइस होती तो फिर उनको निर्विकारी क्यों कहते? वहाँ तो आत्मा और शरीर दोनों पवित्र होते हैं।

तुम जानते हो इस समय 5 तत्व भी आइरन एजेड हैं तो शरीर भी ऐसे मिलते हैं। बीमारी आदि हो जाती है, वहाँ कभी शरीर बीमार हो न सके। यह सब समझने की बातें हैं। वहाँ तुम्हारे शरीर भी नये बनते हैं। सतोप्रधान प्रकृति बन जाती है। वहाँ यह दवाईयां आदि कुछ नहीं होती। शरीर चमकता रहता है। काया कंचन समान बन जाती है। अभी तो लोहे की है। वन्डर है ना काया कैसे बदलती है! कोई पॉलिश तो नहीं की जाती है। काया एकदम कंचन समान हो जाती है उसको गोल्डन एज कहा जाता है। सोने के शरीर तो नहीं होते हैं। लक्ष्मी-नारायण को पारसनाथ पारसनाथिनी कहते हैं। उन्हों के शरीर देखो कितने सतोप्रधान हैं! उन्हों की कितनी महिमा है। अभी तो यह 5 तत्व भी तमोप्रधान हैं, विष से शरीर पैदा होते हैं। वहाँ है योगबल की बात। स्वर्ग में जरूर वाइसलेस बच्चे होंगे। काम महाशत्रु वहाँ होता नहीं। बाप कहते हैं यह काम तुमको आदि-मध्य-अन्त दु:ख देने वाला है। उनको कहा ही जाता है सम्पूर्ण निर्विकारी दुनिया और इसको सम्पूर्ण विकारी दुनिया कहा जाता है। हर एक के अन्दर यह 5 भूत हैं। 5 भूतों पर विजय तब पाते जब सर्वशक्तिमान बाप से योग लगाते हो, जिस योगबल से तुम विश्व के मालिक बनते हो। तो तुम हो इनकागनीटो शिवशक्ति सेना। सेना शिवबाबा से योग लगाकर शक्ति ले रही है। वह सर्वशक्तिमान बाप है ही स्वर्ग की राजधानी स्थापन करने वाला, गॉड फादर। वह आते ही हैं तुमको स्वर्ग का मालिक बनाने। अभी तुम स्वर्ग के लायक नहीं हो। मैं कल्प-कल्प आकर तुम बच्चों को स्वर्ग की राजधानी में राज्य करने के लायक बनाता हूँ। अभी तुम हो नर्क के मालिक। मनुष्य कहते भी हैं फलाना मरा, स्वर्गवासी हुआ। बिल्कुल समझते नहीं हैं कि हम नर्क में हैं। स्वर्ग का वास्तव में कोई को पता ही नहीं है। कहते हैं जिनके पास धन दौलत बहुत है उनके लिए यहाँ ही स्वर्ग है। अरे इतनी बीमारियां आदि लगी पड़ी हैं इसको स्वर्ग कैसे कहेंगे। स्वर्ग तो सतयुग को कहा जाता है। कलियुग में थोड़ेही स्वर्ग है। बाप ने समझाया है यह है विकारी दुनिया। हर एक नारी द्रोपदी, पार्वती है। हर एक नारी को अमरनाथ अमरकथा सुनाते हैं। हर एक द्रोपदी नंगन होने से बच जायेगी। यह बातें बेहद का बाप बैठ समझाते हैं। वह है ही वाइसलेस वर्ल्ड, सम्पूर्ण निर्विकारी दुनिया, विकार बिल्कुल नहीं। आत्मा आकर प्रवेश करती है तो उस समय गर्भ में बिल्कुल प्योर रहती है। आत्मा भी प्योर आती है इसलिए उनको गर्भ में भी कोई सजा नहीं भोगनी पड़ती है। यहाँ तो सभी को सजा मिलती है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) इस दुनिया में स्वयं को मेहमान समझना है। देही-अभिमानी बन पुरानी दुनिया और पुरानी देह से उपराम रहना है।

2) योग से आत्मा और शरीर रूपी बर्तन साफ करना है। यह शरीर काम का नहीं है इसलिए इसमें ममत्व नहीं रखना है।

वरदान:- खुशी के खजाने से अनेक आत्माओं को मालामाल बनाने वाले सदा खुशनसीब भव
खुशनसीब उन्हें कहा जाता जो सदा खुश रहते हैं और खुशी के खजाने द्वारा अनेक आत्माओं को मालामाल बना देते हैं। आजकल हर एक को विशेष खुशी के खजाने की आवश्यकता है, और सब कुछ है लेकिन खुशी नहीं है। आप सबको तो खुशियों की खान मिल गई। खुशियों का वैरायटी खजाना आपके पास है, सिर्फ इस खजाने के मालिक बन जो मिला है वो स्वयं के प्रति और सर्व के प्रति यूज़ करो तो मालामाल अनुभव करेंगे।
स्लोगन:- अन्य आत्माओं के व्यर्थ भाव को श्रेष्ठ भाव में परिवर्तन कर देना ही सच्ची सेवा है।

Brahma Kumaris Murli May 2018 – Bk Murli Daily Hindi

Brahma kumaris murli today : Bk Daily Murli May 2018 

गूगल ड्राइव से हिंदी मुरली डाउनलोड कर सकते हैं।

01-05-2018 02-05-2018 03-05-2018 04-05-2018 05-05-2018
06-05-2018 07-05-2018 08-05-2018 09-05-2018 10-05-2018
11-05-2018 12-05-2018 13-05-2018 14-05-2018 15-05-2018
16-05-2018 17-05-2018 18-05-2018 19-05-2018 20-05-2018
21-05-2018 22-05-2018 23-05-2018 24-05-2018 25-05-2018
26-05-2018 27-05-2018 28-05-2018 29-05-2018 30-05-2018

31-05-2018

मुरली ऑनलाइन पढ़ें  :- यहां क्लिक करे

BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 28 APRIL 2018 – Aaj Ka Purusharth

To Read 27 April Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

Om Shanti
28.04.2018

★【 आज का पुरुषार्थ 】★

बाबा ने पूछा…
बच्चे, तुम कौन हो…?
तुम साधारण नहीं हो … तुम एक विशेष आत्मा हो … अपने ऊँच स्वमान को भूलो मत…।

देखो, बाप ने आप बच्चों को इतने ऊँच स्वमान दिये हैं…।
तुम हो मास्टर भगवान् … मास्टर बाप … मास्टर रचयिता … आदि, आदि…।

हर पल अपने ऊँच से ऊँच स्वमान में स्थित रहो। 
जैसे ही आप बच्चे ऊँच स्वमान में स्थित होते हो, तो आपकी powerful vibrations से वहाँ का वातावरण change होने लगता है।

आप विश्व-कल्याणकारी … विश्व-परिवर्तक आत्मायें हो…। 
फिर बताओ, आप बच्चों का अकल्याण कैसे हो सकता है…?
आप हो विघ्न-विनाशक … तो फिर आप बच्चों के आगे विघ्न कैसे आ सकता है…? 
इस तरह समय अनुसार भिन्न-भिन्न स्वमान के स्मृति स्वरूप बनो … knowledgeful बनो … powerful बनो…।

समय की चेतावनी को समझो…। ऐसे ना हो आप समय के इंतज़ार में रहो और समय अंदर से ही अंदर अपना कार्य finish कर परिवर्तन कर दे…।

देखो बच्चे, समय तो परिवर्तन होना ही है। वह किसी के लिए भी रूकेगा नहीं … इसलिए आप समय को परिवर्तन करने के लिए निमित्त बनो अन्यथा समय आपको परिवर्तन कर देगा…। और उसमें प्राप्ति कुछ नहीं बस पश्चाताप ही है…।

इसलिए बाप की ऊँच पालना का return दो…। 
समय से पहले स्वयं को परिवर्तन करो अर्थात् आपका ऊँच स्वमान natural हो जायें…।
फिर समय परिवर्तन हो जाएगा और पुरूषार्थ finish…

बस बच्चे, जो ओटे सो अर्जुन … अर्थात् check & change…

अच्छा । ओम् शान्ति ।

【 Peace Of Mind TV 】
Dish TV # 1087 | Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 |
Jio TV |

TODAY MURLI 29 APRIL 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 29 April 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 28 April 2018 :- Click Here

29/04/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
15/05/83

The method to go into the flying stage and the signs of charitable soul.

Today, the Father, the Master of the Garden, is seeing in His spiritual garden His fragrant flowers and the buds of tomorrow who are instruments especially for benefit and who are also filled with courage and enthusiasm. Baba is seeing the little children who are the images of the fortune of tomorrow. (Today, a group of little children is sitting in front of BapDada.) BapDada calls these little children the sparkling stars of the earth. These lucky stars will be the instruments to give light to the world. Seeing all these young and old children, BapDada remembers the scene at the beginning of establishment, when such little children emerged and had the determined thought and the zeal and enthusiasm for the task of world benefit: We little children will carry out the biggest task that all the politicians, leaders of religion and scientists want to accomplish, but are unable to do. We little ones will carry out this task and show everyone. Today, Baba is seeing those thoughts of those little children in the corporeal form. Those few little children are today carrying out the task in the form of the Shiv Shakti Pandav Army. All of you know the history. Today, all of you have become the deepmala (rosary of lights) through those ignited lamps and have become the garland around the Father’s neck. Even now, seeing the young and old children, Baba can see in every child the picture of fortune of tomorrow’s world. What do all of you children consider yourselves to be? You are lucky stars, are you not? Today is the day for the children; the older ones are watching from the gallery. BapDada is also happy to see the special children. Each child will give many souls the Father’s introduction and the right to claim the Father’s inheritance. In any case, children are said to be great souls. All of you are true, great souls, that is, pure, elevated souls, are you not? Do you great souls maintain your one determined thought of constantly belonging to the one Father and following the one elevated direction? You have this firm faith, do you not? When you go back to your own places, you are not going to be trapped in anyone’s company, are you? The photograph of all of you has been taken here. So, constantly remember your elevated life. Always remember that each one of you children is an instrument for the elevated transformation of all the souls of the world. Do you have the courage to take up such a huge responsibility? Are all of you children going to fulfil your responsibility of service from amrit vela? If you are weak in any respect, put that right from now. Everyone’s vision is on all of you. This is why, from amrit vela until night time, all of you have to follow accurately the timetable that you have been given for the life of an easy yogi and an elevated yogi, that is, for an elevated life. Pay attention to this with determination from now on. Do all of you know the qualifications of a yogi? (All the children responded to all of BapDada’s questions, saying “Yes”.) Do you all know how a yogi sits, how he behaves and what his vision is like? Do you move along in the same way or do you also make a little mischief? All of you are yogi souls, are you not? You children cannot do what the people of the world do. You great souls have to remain such embodiments of peace that, no matter how many great people there are, seeing you souls who are embodiments of peace, people experience peace. Let them not see you as ordinary children, but as unique children. You are unique and special souls. Do you move along in this way? Transform this from now. Today, BapDada has especially come to meet all of you children. Do you understand?

Older ones have still come with the children. BapDada is giving special remembrance to all the children who have come. As well as this, all of you know that, according to the present time, BapDada is taking all the children into the flying stage. You do know what the elevated method for the flying stage is, do you not? With the transformation of one word, you can constantly experience the flying stage. What is that one expression? Just, “Everything is Yours! (Tera)” You changed the word “mine” (mera) into “Yours” (Tera). The word “Yours” also makes you belong to Him, and this one word makes you double light for all time. When you say “I am Yours!” the soul is light, and when you say “Everything is Yours”, then, too, you become light (no burden). So, just the one word “Yours”. By being double light, you easily become those in a flying stage. You have had the practice of saying “mine” over a long period of time. This word “mine” has taken you into many types of spin. This one word. “Mine” has changed and now become “Yours”. This change is not difficult, is it? Remain constantly stable in the true form of this one word. Do you understand what you have to do? The elevated souls who constantly stay lost in love of the One experience the elevated life of the present time and are also making their future elevated and imperishable. Therefore, constantly remember this one word. Do you understand? On the basis of this, you can progress to whatever extent you want and you can also accumulate as many treasures as you want. In any case, in worldly life, well-known souls from a good clan always have the aim in their lives of making donations and performing charity. All of you are from the greatest and the most elevated clan of all. So, what is the aim of the Brahmin souls of the elevated clan, that is, of the souls who are full of all treasures? Constantly to be a great donor. Constantly to be a charitable soul. If you have a thought influenced by any vice, what would that be called? Would that be sin or charity? It would be called sin, would it not? Be one who constantly performs charity for the self too: a charitable soul in thoughts, a charitable soul in words and a charitable soul in deeds. When you have become a charitable soul, there can be no name or trace of any sin. Therefore, remain constantly aware that all of you Brahmin souls are constantly charitable souls. To have elevated feelings and elevated good wishes for any soul is the greatest charity. No matter what any other soul may be like, whether that soul opposes you or is loving to you, the charity of a charitable soul is to transform the soul who opposes you with the charitable treasures of elevated feelings. It is said to be charity to carry out a task of enabling a soul who lacks something to attain that thing. This is charity. When an opposing soul comes in front of you charitable souls, you would always see that soul as a soul who is deprived of the power to tolerate. Then, with your accumulation of charity, good wishes and elevated thoughts, you would co-operate in making that soul attain the power of tolerance. This becomes an act of charity for that soul. A charitable soul constantly considers the self to be a bestower, a child of the Bestower. He remains beyond any desire for temporary attainment from any soul and even beyond taking anything from anyone. Such a soul doesn’t have limited desires such as: When this soul gives something, I too will give something. When this one does something, I too will do something. Because of being a child of the Bestower, he would be a charitable soul who gives everyone love, co-operation and power. A charitable soul never has any desire for praise for the charity he performs because, as a charitable soul, he knows that to accept limited praise is to remain deprived of attainment for all time. This is why, in giving, he is always as full as an ocean. A charitable soul would give others the experience of happiness, the Father’s love, supersensuous joy and a spiritual life full of bliss with his every word. His every word would be nourishment of happiness. Every deed of a charitable soul would be such that they enable all souls to receive co-operation. On seeing the deeds of this charitable soul, every soul would experience receiving co-operation in constantly flying ahead. Do you understand the qualifications of a charitable soul? So, constantly be such elevated souls, that is, become the practical form of elevated Brahmin life. Be the charitable souls of pure households, for only with the influence of such charitable souls will the name and trace of sin end. Achcha.

To the charitable souls who constantly perform charity with their every thought, to those who go into the flying stage by constantly changing one word, to the special souls who, as children of the Bestower, constantly bestow on everyone, BapDada’s love, remembrance and namaste.

Elevated versions of BapDada for Kumars :

All of you kumars are going to claim the first number, are you not? Is there only one who claims the first number or do many of you? Achcha. Are you those who will come in the first division? Do you know what the speciality is of those who claim the first number? Those who come first are always equal to the Father. Equality brings closeness. Those who are close, that is, those who are going to become equal can come in the first division. So, when will you become equal to the Father? What will you do when the numbers of the rosary of victory are announced? There is no date but the present moment. Is this difficult? What difficulty do you kumars have? You have to eat two chapattis and engage yourself in the Father’s service. This is all you have to do, is it not? You would carry out any task just for two chapattis, would you not? You do that, don’t you? That is not with attachment, is it? It doesn’t happen simply because you are told to do so. Kumars don’t do anything simply by being told; they are free. Therefore, constantly have the aim of becoming equal to the Father. Just as the Father is light, so become double light. When you look at others, you become weak. Therefore, see the Father and follow the Father. Constantly remember this. Constantly keep yourself under the canopy of the Father’s protection. Those who stay under the canopy of protection become constant conquerors of Maya. If you don’t stay under the canopy of protection, if you are sometimes under it and sometimes away from it, you are defeated. Those who stay under the canopy of protection don’t have to make effort. The rays of all powers automatically make you conquerors of Maya. The awareness of, “The one Father belongs to me in all relationships,” makes you a powerful soul.

Kumars, now prepare a plan for your life like this, so that everyone would say, “If there are any souls who are free from obstacles, they are here. All of you become destroyers of obstacles; not those who shake, but those who transform the atmosphere. Become those who make the atmosphere powerful. Let the flag of victory be constantly flying. Prepare such a special plan. Where there is unity , success comes easily. However, don’t let there be unity in making others fall, but in making others ascend. Aim to be constantly in the flying stage and to take everyone with you. “Kumars” means those who are constantly obedient and faithful. You are those who follow the Father at every step. The Father’s virtues are the virtues of the children. The Father’s task is the task of the children. The Father’s sanskars are the sanskars of the children. This is known as following the Father. You only have to repeat and copy what the Father has done. By copying here, you will receive full marks. There, by copying, your marks are reduced whereas here, by copying, you receive full marks. Therefore, first of all, check that every thought you have is equal to the Father’s. If not, then change it. If it is, then put it into practice. This is such an easy path! You simply have to do what the Father has done. Those who constantly follow the Father in this way remain stable in the stage of a master almighty authority. The Father’s inheritance is all powers and all virtues. Therefore, “the Father’s heirs” means those who have a right to all powers and all virtues. How can someone who has a right lose that right? If you become careless, Maya will steal them. Maya also finds Brahmin souls to be her best customers. So, she also looks for her chance. You have been her companions for half the cycle and so how would she let go of such companions just like that? It is Maya’s duty to come and your duty to be victorious, not to become confused. When a prey comes in front of a hunter, would he become afraid? When Maya comes, be victorious and don’t be afraid. Achcha.

BapDada meetings teachers:

The instrument servers! By saying ‘instrument’ you easily remember who made you an instrument. Whenever you use the word ‘server’, definitely use the word ‘instrument’ before it. By considering yourself to be an instrument you will automatically be humble and to the extent that you are humble, you will be fruitful. To be humble means to be an embodiment of the fruit. So, do all of you instrument servers continue to move along while considering yourselves to be instruments? Those who consider themselves to be instruments are always light and always embodiments of success. To the extent that you are light, you will definitely be successful. Sometimes there is less service and sometimes more, so you do not feel that to be a burden, do you? You do not get heavy wondering what will happen or how it will happen, do you? “The One who is making everyone move is making you move and I am simply performing the task as an instrument”. This is the speciality of a server. Remain constantly happy with your own efforts and be content in service for only then will those for whom you are instruments be content. Remain constantly content and keep others content: this is your speciality.

According to the present time, what is the service of servers? The service of making everyone light. The service of taking everyone into the flying stage. You can only take others into the flying stage when you are light. All your types of burdens have become light and you are the ones who lighten the burdens of others. You have to enable the souls for whom you have become instruments to reach their destination, do you not? You must not let them get stuck or trapped, but you have to become light and make them light. When you become light, you will automatically reach your destination. This is the present service of the servers. Continue to fly and make others fly. Everyone has received a lottery in service. Constantly continue to use this lottery. Let service continue to take place at every breath and at every second. Remain constantly busy in this. Achcha.

Blessing: May you be a master sun of knowledge and spread rays of happiness into the world by becoming an embodiment of happiness.
Just as the Father is the Ocean of Knowledge and the Ocean of Happiness, similarly, you also have to become an embodiment of knowledge and an embodiment of happiness. Do not just speak about every virtue, but also experience it. When you have experienced being an embodiment of happiness, rays of happiness will spread into the world from the souls who are embodiments of happiness. Just as the rays of the sun spread over the whole world, in the same way, when the rays of your knowledge, happiness and bliss reach all souls, you will then be called a master sun of knowledge.
Slogan: Brahmins with a divine birth are those who give the experience of divinity with their words, thoughts and deeds.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 29 APRIL 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 29 April 2018

To Read Murli 28 April 2018 :- Click Here
29-04-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 15-05-83 मधुबन

उड़ती कला में जाने की विधि और पुण्य आत्माओं की निशानियां

आज बागवान बाप अपने रूहानी बगीचे में खुशबूदार फूलों को और कल की विशेष कल्याण अर्थ निमित्त बनी हुई हिम्मत-हुल्लास वाली कलियों को भी देख रहे हैं। कल के तकदीर की तस्वीर नन्हें मुन्ने बच्चों को देख रहे हैं। (आज बापदादा के सम्मुख छोटे-छोटे बच्चों का ग्रुप बैठा है) बापदादा इन छोटे-छोटे बच्चों को धरनी के चमकते सितारे कहते हैं। यही लकी सितारे विश्व को नई रोशनी देने के निमित्त बनेंगे। इन छोटे बड़े बच्चों को देख बापदादा को स्थापना के आदि का नज़ारा याद आ रहा है। जबकि ऐसे छोटे-छोटे बच्चे विश्व कल्याण के कार्य के उमंग-उत्साह में दृढ़ संकल्प करने वाले निकले कि हम छोटे सबसे बड़ा कार्य करके दिखायेंगे जो राज्य-नेतायें, धर्म नेतायें, विज्ञानी आत्मायें चाहना रखती हैं लेकिन कर नहीं पाती हैं, यह कार्य हम छोटे-छोटे कर दिखायेंगे। और आज उन छोटे-छोटे बच्चों का संकल्प साकार रूप में देख रहे हैं। वो थोड़े ही छोटे बच्चे आज शिवशक्ति पाण्डव सेना के रूप में कार्य कर रहे हैं। हिस्ट्री तो सब जानते हो ना। आज उन्हीं जगे हुए दीपकों से आप सभी दीपमाला बन बाप के गले के हार बन गये हो। अब भी छोटे बड़े बच्चों को देख हर बच्चे में विश्व के कल की तकदीरवान तस्वीर दिखाई देती है। सभी बच्चे अपने को क्या समझते हो? लकी सितारे हो ना। आज का दिन है ही बच्चों का दिन, बड़े तो गैलरी में बैठ देखने वाले हैं। बापदादा भी विशेष बच्चों को देख हर्षित होते हैं। एक एक बच्चा अनेक आत्माओं को बाप का परिचय दे बाप के वर्से के अधिकारी बनाने वाले हो ना! वैसे भी बच्चों को महात्मा कहा जाता है। सच्चे-सच्चे महान आत्मायें अर्थात् श्रेष्ठ पवित्र आत्मायें आप सब हो ना! ऐसी महान आत्मायें सदा अपने एक ही दृढ़ संकल्प में रहती हो? सदा एक बाप और एक ही श्रीमत पर चलना है। यह पक्का निश्चय किया है ना! अपने-अपने स्थानों पर जाए किसी भी संग में तो नहीं आने वाले हो? आप सभी का फोटो यहाँ निकल गया है इसलिए सदा अपना श्रेष्ठ जीवन याद रखना। हम हर एक बच्चा विश्व की सर्व आत्माओं के श्रेष्ठ परिवर्तन के निमित्त हैं, सदैव यह याद रखना। इतनी बड़ी जिम्मेवारी उठाने की हिम्मत है? सभी बच्चे अमृतवेले से लेकर अपने सेवा की जिम्मेवारी निभाने वाले हो? जो भी किसी भी बात में कमज़ोर हो तो उसको अभी से ठीक कर लेना। आप सभी के ऊपर सभी की नज़र है इसलिए अमृतवेले से लेकर रात तक सहज योगी, श्रेष्ठ योगी जो भी श्रेष्ठ जीवन के लिए दिनचर्या मिली हुई है, उसी प्रमाण सभी को यथार्थ रीति चलना पड़ेगा – यह अटेन्शन अभी से दृढ़ संकल्प के रूप में रखना। सभी को योगी के लक्षणों का पता है? (सब बच्चे बापदादा को हरेक बात पर जी हाँ का रेसपान्ड करते रहे) योगी आत्माओं की बैठक, चलन, दृष्टि क्या होती है, यह सब जानते हो? ऐसे ही चलते हो वा थोड़ी-थोड़ी चंचलता भी करते हो? सब योगी आत्मायें हो ना! जो दुनिया वाले करते हैं वह आप बच्चे नहीं कर सकते। आप महान आत्मायें ऐसे शान्त स्वरूप रहो जो भल कितने भी बड़े-बड़े हों लेकिन आप शान्त स्वरूप आत्माओं को देख शान्ति की अनुभूति करें और यही दिखाई दे कि यह साधारण बच्चे नहीं लेकिन सभी अलौकिक बच्चे हैं। न्यारे हैं और विशेष आत्मायें हैं। तो ऐसे चलते हो? अभी से यह भी परिवर्तन करना। आज सभी बच्चों से मिलने के लिए ही विशेष बापदादा आये हैं। समझा!

बच्चों के साथ बड़े भी आये हैं। बापदादा आये हुए सभी बच्चों को विशेष याद दे रहे हैं। साथ-साथ यह तो सभी जानते हो कि वर्तमान समय प्रमाण बापदादा सभी बच्चों को उड़ती कला की ओर ले जा रहे हैं, उड़ती कला का श्रेष्ठ साधन जानते हो ना। एक शब्द के परिवर्तन से सदा उड़ती कला का अनुभव कर सकते हो। एक शब्द कौन सा? सिर्फ ‘सब कुछ तेरा’। ‘मेरा’ शब्द बदल ‘तेरा’ कर लिया। तेरा शब्द ही तेरा हूँ बना देता है। और यही एक शब्द सदा के लिए डबल लाइट बना देता है। तेरा हूँ, तो आत्मा लाइट है। और जब सब कुछ तेरा तो भी लाइट (हल्के) बन गये ना। तो सिर्फ एक शब्द ‘तेरा’। डबल लाइट बन जाने से सहज उड़ती कला वाले बन जाते। बहुत समय का अभ्यास है ‘मेरा’ कहने का। जिस मेरे शब्द ने ही अनेक प्रकार के फेरे में लाया है। अभी इसी एक शब्द को परिवर्तन कर लो। मेरा सो तेरा हो गया। यह परिवर्तन मुश्किल तो नहीं है ना। तो सदा इसी एक शब्द के अन्तर स्वरूप में स्थित रहो। समझा क्या करना है। सदा एक ही लगन में मगन रहने वाले, ऐसी श्रेष्ठ आत्मायें वर्तमान भी श्रेष्ठ जीवन का अनुभव कर रही हैं और भविष्य भी अविनाशी श्रेष्ठ बना रही हैं इसलिए सदा यह एक शब्द याद रखो। समझा! इसी आधार पर जितना आगे बढ़ने चाहो उतना आगे बढ़ सकते हो और जितना अपने पास खजाने जमा करने चाहो उतने खजाने जमा कर सकते हो। वैसे भी लौकिक जीवन में सदा जो भी नामीग्रामी अच्छे कुल वाली आत्मायें होती हैं वह सदा अपने जीवन के लिए दान पुण्य करने का लक्ष्य रखती हैं। आप सभी सबसे बड़े ते बड़े कुल, श्रेष्ठ कुल के हो। तो श्रेष्ठ कुल वाली ब्राह्मण आत्मायें अर्थात् सर्व खजानों से सम्पन्न आत्मायें उन्हों का भी लक्ष्य क्या है? सदा महादानी बनो। सदा पुण्य आत्मा बनो। कभी भी संकल्प में भी किसी विकार के वश कोई संकल्प भी किया तो उसको क्या कहा जायेगा? पाप वा पुण्य? पाप कहेंगे ना। स्वयं के प्रति भी सदा पुण्य कर्ता बनो। संकल्प में भी पुण्य आत्मा, बोल में भी पुण्य आत्मा और कर्म में भी पुण्य आत्मा। जब पुण्य आत्मा बन गये तो पाप का नाम निशान नहीं रह सकता। तो सदा यह स्मृति में रखो कि हम सर्व ब्राह्मण आत्मायें सदा की पुण्य आत्मायें हैं। किसी भी आत्मा के प्रति सदा श्रेष्ठ भावना और श्रेष्ठ कामना रखना यह सबसे बड़ा पुण्य है। चाहे कैसी भी आत्मा हो, विरोधी आत्मा हो वा स्नेही आत्मा हो लेकिन पुण्य आत्मा का पुण्य ही है – जो विरोधी आत्मा को भी श्रेष्ठ भावना के पुण्य की पूँजी से उस आत्मा को भी परिवर्तन करे। पुण्य कहा ही जाता है, जिस आत्मा को जिस वस्तु की अप्राप्ति हो उसको प्राप्त कराने का कार्य करना – यह पुण्य है। जब कोई विरोधी आत्मा आपके सामने आती है तो पुण्य आत्मा, सदा उस आत्मा को सहनशक्ति से वंचित आत्मा है – उसी नज़र से देखेंगे। और अपने पुण्य की पूंजी द्वारा, शुभ भावना द्वारा, श्रेष्ठ संकल्प द्वारा उस आत्मा को सहनशक्ति की प्राप्ति के सहयोगी आत्मा बनेंगे। उसके लिए यही पुण्य का कार्य हो जाता है। पुण्य आत्मा सदा स्वयं को दाता के बच्चे देने वाला समझते हैं। किसी भी आत्मा द्वारा अल्पकाल की प्राप्ति लेने की कामना से परे रहते हैं। यह आत्मा कुछ देवे तो मैं दूँ, वा यह भी कुछ करे तो मैं भी करूँ, ऐसी हद की कामना नहीं रखते। दाता के बच्चे बन सबके प्रति स्नेह, सहयोग, शक्ति देने वाले पुण्य आत्मा होंगे। पुण्य आत्मा कभी भी अपने पुण्य के बदले प्रशंसा लेने की कामना नहीं रखते क्योंकि पुण्य आत्मा जानते हैं कि यह हद की प्रशंसा को स्वीकार करना सदाकाल की प्राप्ति से वंचित होना है इसलिए वह सदा देने में सागर के समान सम्पन्न रहते हैं। पुण्य आत्मा सदा अपने हर बोल द्वारा औरों को खुशी में, बाप के स्नेह में, अतीन्द्रिय सुख में, रूहानी आनन्दमय जीवन का अनुभव करायेंगे। उनका हर बोल खुशी की खुराक होगी, पुण्य आत्मा का हर कर्म सर्व आत्माओं के प्रति सदा सहयोग की प्राप्ति कराने वाला होगा और हर आत्मा अनुभव करेगी कि इस पुण्य आत्मा का कर्म देख सदा आगे उड़ने का सहयोग प्राप्त हो रहा है। समझा – पुण्य आत्मा के लक्षण। तो ऐसे सदा पुण्यात्मा बनो अर्थात् श्रेष्ठ ब्राह्मण जीवन का प्रत्यक्ष स्वरूप बनो। पवित्र प्रवृत्ति वाली पुण्य आत्मायें बनो तब ही ऐसी पुण्य आत्माओं के प्रभाव से पाप का नाम निशान समाप्त हो जायेगा। अच्छा !

ऐसे सदा हर संकल्प द्वारा पुण्य करने वाली पुण्य आत्मायें, सदा एक शब्द के परिवर्तन द्वारा उड़ती कला में जाने वाले, सदा दाता के बच्चे बन सबको देने वाली विशेष आत्माओं को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

कुमारों प्रति – अव्यक्त बापदादा के मधुर महावाक्य

सभी कुमार फर्स्ट नम्बर में आने वाले हो ना। फर्स्ट नम्बर एक होता है या इतने होते हैं? अच्छा फर्स्ट डिवीजन में आने वाले हो? फर्स्ट आने वाले की विशेषता क्या होती है, वह जानते हो? फर्स्ट में आने वाले सदा बाप समान होंगे। समानता ही समीपता लाती है। समीप अर्थात् समान बनने वाले ही फर्स्ट डिवीजन में आ सकते हैं। तो बाप समान कब तक बनेंगे? जब विजय माला के नम्बर आउट हो जायेंगे फिर क्या करेंगे? डेट नहीं लेकिन अब की घड़ी। क्या इसमें मुश्किल है? कुमारों को कौन सी मुश्किल है? दो रोटी खाना है और बाप की सेवा में लगना है, यही काम है ना। दो रोटी के लिए निमित्त मात्र कोई कार्य करते हो ना। ऐसे करते हो, लगाव से तो नहीं करते हो ना! निमित्त कहने से नहीं होता, कुमार कहने से नहीं करते, स्वतंत्र हैं। तो सदा लक्ष्य रहे बाप समान बनना है। जैसे बाप लाइट है वैसे डबल लाइट। औरों को देखते हो तो कमजोर होते हो, सी फादर, फालो फादर करना है। यही सदा याद रखो। स्वयं को सदा बाप की छत्रछाया के अन्दर रखो। छत्रछाया में रहने वाले सदा मायाजीत बन ही जाते हैं। अगर छत्रछाया के अन्दर नहीं रहते, कभी अन्दर कभी बाहर तो हार होती है। छत्रछाया के अन्दर रहने वाले को मेहनत नहीं करनी पड़ती। स्वत: ही सर्व शक्तियों की किरणें उसे माया जीत बनाती हैं। एक बाप सर्व सम्बन्ध से मेरा है, यही स्मृति समर्थ आत्मा बना देती है।

कुमार अब ऐसा जीवन का नक्शा तैयार करके दिखाओ जो सब कहें निर्विघ्न आत्मायें हैं तो यहाँ हैं। सब विघ्न-विनाशक बनो। हलचल में आने वाले नहीं, वायुमण्डल को परिवर्तन करने वाले। शक्तिशाली वायुमण्डल बनाने वाले बनो। सदा विजय का झण्डा लहराता रहे। ऐसा विशेष नक्शा तैयार करो। जहाँ युनिटी है वहाँ सहज सफलता है। लेकिन गिराने में युनिटी नहीं करना, चढ़ाने में। सदा उड़ती कला में जाना है और सबको ले जाना है – यही लक्ष्य रहे। कुमार अर्थात् सदा आज्ञाकारी, वफादार। हर कदम में फालो फादर करने वाले। जो बाप के गुण वह बच्चों के, जो बाप का कर्तव्य वह बच्चों का, जो बाप के संस्कार वह बच्चों के, इसको कहा जाता है फालो फादर। जो बाप ने किया है वही रिपीट करना है, कापी करना है। इस कापी करने से फुल मार्क्स मिल जायेंगी। वहाँ कापी करने से मार्क्स कट जाती और यहाँ फुल मार्क्स मिल जाती। तो जो भी संकल्प करो, पहले चेक करो कि बाप समान है। अगर नहीं है तो चेन्ज कर दो। अगर है तो प्रैक्टिकल में लाओ। कितना सहजमार्ग है। जो बाप ने किया वह आप करो। ऐसे सदा बाप को फालो करने वाले ही सदा मास्टर सर्वशक्तिवान स्थिति में स्थित रहते हैं। बाप का वर्सा ही है सर्वशक्तियाँ और सर्वगुण। तो बाप के वारिस अर्थात् सर्वशक्तियों के, सर्वगुणों के अधिकारी। अधिकारी से अधिकार जा कैसे सकते। अगर अलबेले बने तो माया चोरी कर लेगी। माया को भी सबसे अच्छे ग्राहक ब्राह्मण आत्मायें लगती हैं इसलिए वह भी अपना चांस लेती है। आधा कल्प उसके साथी रहे, तो अपने साथियों को ऐसे कैसे छोड़ेगी। माया का काम है आना, आपका काम है जीत प्राप्त करना, घबराना नहीं। शिकारी के आगे शिकार आता है तो घबरायेंगे क्या? माया आती है तो जीत प्राप्त करो, घबराओ नहीं। अच्छा!

टीचर्स के साथ:- निमित्त सेवाधारी! निमित्त कहने से सहज ही याद आ जाता है किसने निमित्त बनाया है। कभी भी सेवाधारी शब्द कहो तो उसके आगे निमित्त जरूर कहो। दूसरा निमित्त समझने से स्वत: ही निर्मान बन जायेंगे। और जो जितना निर्मान होगा उतना फलदायक होगा। निर्मान बनना अर्थात् फल स्वरूप बनना है। तो सभी निमित्त सेवाधारी, अपने को निमित्त समझकर चलते हो? निमित्त समझने वाले सदा हल्के और सदा सफलतामूर्त होते हैं। जितना हल्के होंगे उतना सफलता जरूर होगी। कभी सेवा कम होती, कभी ज्यादा तो बोझ तो नहीं लगता है ना। भारी तो नहीं होते, क्या होगा, कैसे होगा। कराने वाला करा रहा है और मैं सिर्फ निमित्त बन कार्य कर रही हूँ – यही सेवाधारी की विशेषता है। सदा स्व के पुरुषार्थ से और सेवा से सन्तुष्ट रहो तब ही जिन्हों के निमित्त बनते हैं उन्हों में सन्तुष्टता होगी। सदा सन्तुष्ट रहना और दूसरों को रखना – यही विशेषता है।

वर्तमान समय के हिसाब से सेवाधारी की सेवा कौन सी है? सर्व को हल्के बनाने की सेवा। उड़ती कला में ले जाने की सेवा। उड़ती कला में तब ले जायेंगे जब हल्के होंगे। सर्व प्रकार के बोझ स्वयं के भी हल्के और सर्व के भी बोझ हल्के करने वाले। जिन आत्मओं के निमित्त सेवाधारी बने हैं उन्हों को मंजिल पर तो पहुंचाना है ना! अटकाना वा फँसाना नहीं है लेकिन हल्के बन हल्के बनाना है। हल्के बनेंगे तो मंजिल पर स्वत: पहुंच जायेंगे। सेवाधारी की वर्तमान समय यही सेवा है। उड़ते रहो उड़ाते रहो। सभी को सेवा की लाटरी मिली है, इसी लाटरी को सदा कार्य में लगाते रहो। हर सेकेण्ड में श्वाँसों श्वांस सेवा चलती रहे। इसी में सदा बिजी रहो। अच्छा!

वरदान:- सुख स्वरूप बन सारे विश्व में सुख की किरणें फैलाने वाले मास्टर ज्ञान सूर्य भव 
जैसे बाप ज्ञान का सागर, सुख का सागर है वैसे स्वयं भी ज्ञान स्वरूप, सुख स्वरूप बनो, हर गुण का सिर्फ वर्णन नहीं लेकिन अनुभव हो। जब सुख स्वरूप के अनुभवी बनेंगे तो आप सुख स्वरूप आत्मा द्वारा सुख की किरणें विश्व में फैलेंगी। जैसे सूर्य की किरणें सारे विश्व में जाती हैं वैसे आपके ज्ञान, सुख, आनंद की किरणें जब सर्व आत्माओं तक पहुंचेंगी तब कहेंगे मास्टर ज्ञान सूर्य।
स्लोगन:- दिव्य जन्मधारी ब्राह्मण वह है जो अपने बोल, संकल्प और कर्म से दिव्यता का अनुभव कराये।
Font Resize