Month: March 2018

BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 31 MARCH 2018 – Aaj Ka Purusharth

To Read 30 March Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

*Om Shanti*
*31.03.2018*

★【 *आज का पुरुषार्थ*】★

जो बच्चे श्रीमत प्रमाण पुरूषार्थ कर रहे हैं और अपनी दिनचर्या में भी उसी प्रमाण चल रहे है उनका बाप 100% ज़िम्मेवार है।

अब उन बच्चों का प्राप्तियों का समय बहुत जल्दी ही शुरू होगा, तो उन्हें किसी भी प्रकार की कोई कमी महसूस नहीं होगी और कुछ ही समय में अर्थात् बहुत थोड़े से भी थोड़े और उसमें से भी थोड़े समय में उनके जीवन में आये हर तूफान तोहफे में परिवर्तन हो जायेंगे, इसलिए वह बिल्कुल निश्चिन्त रहें…।

अब तो उनका तन, मन, धन, जन अर्थात् चारों तरफ का स्नेह-सहयोग उन्हें प्रत्यक्ष करेगा क्योंकि बाप स्वयं वरदानीमूर्त बन 100% उनका साथ निभायेगा। तभी तो ऐसे बच्चों की जयजयकार होगी ।

दूसरी तरफ, जो बच्चे अभी भी समय को देख, दुनिया को देख पुरूषार्थ कर रहे हैं, वह स्वयं के जवाबदार स्वयं है।

अगर वह इस समय भी परमात्मा बाप का और अपने ऊँचे भाग्य का फायदा नहीं उठा रहे हैं, तो उनकी क्या गति होगी…?

उन्हें देख बाबा को बहुत रहम आता है, फिर बाबा भी कहता है – drama…!

इस समय तो बाप एक का पदमगुणा दे रहा है। परन्तु अगर बच्चे हिम्मत का, दृढ़ता का एक कदम भी ना उठाए तो बताओ बाप भी क्या करें…?

देखो बच्चे, अब जल्दी ही पुरूषार्थ का समय खत्म हो जायेगा।

फिर बस हर आत्मा अपने किये गए पुरूषार्थ के according अपनी seat पर set हो जाएगी, इसलिए इस बचे हुए थोड़े से समय में अपना भाग्य बना लो … जो करेगा सो बनेगा…।
यह drama का नियम है, इसमें बाप भी बँधा हुआ है ।

अच्छा । ओम् शान्ति ।

【 *Peace Of Mind TV* 】
Tata Sky # 1065 | Dish TV # 1087 | Airtel # 678 | Videocon # 497 | 
Jio TV |

TODAY MURLI 1 APRIL 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 1 April 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 31 March 2018 :- Click Here

01/04/18
Madhuban
Avyakt BapDada
Om Shanti
07/05/83

The world of Brahmins is free from sorrow.

Today, the Carefree Emperor, the Emperor who is free from sorrow, has come to meet His master, carefree emperors. This gathering is of the emperors of the confluence age. It is through this sovereignty that you attain your reward in the future. BapDada was seeing whether all the children have become emperors who are free from sorrow, that is, those who are beyond all types of sorrow. The world of Brahmins is free from sorrow. Souls who have a right to the confluence-aged Brahmin world are carefree emperors. Have you become such carefree emperors that there is no wave of sorrow even in your thoughts? Do you experience yourselves to be the carefree emperors who are constantly on the bed of happiness in the world of happiness? There is no name or trace of sorrow in the Brahmin world or in Brahmin life because there are no Brahmin treasures that are unattained. The reason for sorrow is that something is unattained. Attainment is the means of happiness. So, to be an embodiment of all attainments means to be an embodiment of happiness. Have you become such an embodiment of constant happiness? The means of happiness are relationships and wealth in particular. Just think about it – you have attained the relationship of eternal happiness, have you not? In terms of relationships, if even one relationship is missing, there are then waves of sorrow. In the Brahmin world, all relationships with the Father are eternal. Is even one relationship lacking? All relationships are imperishable and so how could there be waves of sorrow? In terms of wealth, all the treasures, or the elevated treasure of all wealth is the wealth of knowledge through which you can automatically attain all types of wealth. Since you have attained wealth and relationships, you are in a carefree world. You are the children and the masters of the world of constant happiness, that is, you are the emperors. Have you become emperors or are you becoming that? What does BapDada think when He sees or hears of your waves of sorrow? That you are children of the Ocean of Happiness, that you are carefree emperors, so how can there be waves of sorrow? You must definitely have gone outside the boundary of the world of happiness. You got attracted to one artificial attraction or another or some artificial form, just as it is shown in the memorial of the previous cycle, that Sita was attracted and crossed the line of the code of conduct, that is, she crossed the boundary of the world of happiness, and where did she end up as a result of that? In the cottage of sorrow! When you are within the boundary, you experience happiness even in a jungle, and fortune even in renunciation; you are emperors without even as much as a shell. Even in the beggary life, you lead the life of a prince. You experience this, do you not? What do you experience when you come to Madhuban, away from the whole world? It is in a small place in a corner of the world, but as soon as you arrive here you say that you have reached a world that is even more elevated than the golden-aged world. So you experience happiness in a jungle, do you not? You experience the dry mountains to be a world of happiness as elevated as diamonds. You experience your world to have changed. In the same way, wherever you Brahmin souls may be, even amidst an atmosphere of sorrow, you are like a lotus. You are detached from sorrow, carefree emperors. No waves of the sorrow of some physical illness, now waves of the sorrow of a wasteful upheaval in your mind, no waves of the sorrow of a lack of attainment of perishable wealth, no waves of the sorrow of your weak sanskars and nature or those of others, no waves of the sorrow of the atmosphere or vibrations, or waves of sorrow based on relationships and contacts pull you to themselves, do they? You are detached from them, are you not? When your world changed, your sanskars changed. Your nature also changed and you therefore became part of the world of happiness. In fact, you became beggars, that is, not even your body – the home – belongs to you. You have become beggars, have you not? However, you also became the masters of all the Father’s treasures. You became self-sovereigns. Do you have such intoxication and happiness? This is known as being a carefree emperor. So, all of you sitting here are emperors, are you not? Is the condition of your kingdom fine? Are all the workers in your kingdom working under your orders? None of them are deceiving you emperors, are they? Are all the workers in your kingdom those who say, “Present, my lord!” or “Yes, my Lord!”? Do you hold your own court? A court of kings is held to check that all the workers are working correctly. Is your treasure-store full of all treasures? Is your treasure-store full to the extent that even if you constantly donate as a great donor, the treasure would still be unending? Do you check this? You have become Brahma Kumars and Kumaris, you have become yogis. Therefore, you don’t forget to check yourself in the intoxication of this carelessness, do you? Constantly check the activities of your kingdom. Do you understand? You know how to check, do you not? This gathering is of the majority of those who are mature and experienced. To be experienced means to have authority. What authority? The authority of self-sovereignty. You are those with such authority, are you not? You have just come today. You have come to have yourselves checked and to claim the certificate, have you not? To see that you are proper emperors, have you not? You will go back with a certificate for whatever type of king you are, will you not? Whether you are a king in name only or a king (ruler) in your activities as well, you will be able to see all of that for yourself in the palace of mirrors. Achcha.

To the carefree emperors who constantly stay in the world of happiness, to the powerful souls who constantly have a right to the kingdom, to those who are constantly beyond all waves of sorrow and who are loving to the Father, the Bestower of Happiness, to the elevated souls who are authorities of experience, BapDada’s love, remembrance and namaste.

BapDada meeting Dadis: BapDada is pleased to see all the children who are equal to the Father. Souls who are constantly equal to the Father are loved a great deal. So this whole gathering is of souls who are equal. BapDada always sees the souls who are equal to Him as His companions. Such children are with Him when He tours around the world and also when He goes to look after the children. They are constantly with Him and this is why the souls who are equal are constant yogis. They are not those who have to have yoga, but they are always merged in love. They are never separate and so what would they remember? They have natural remembrance. When you are together, you automatically remember. So the stage of the souls who are equal is that of being together and of being merged. So, at every step, the children are constantly in the front and the Father is behind them. They are constantly in the front in every task. The children are in the front, and the Father not only gives a powerful current (sakaash) but also gives the experience of His constant company. Just as the Father gives a powerful current, so too, the children who are equal also become those who give a powerful current. This is such a gathering, is it not? This is the special rosary of the special beads. The rosary is being prepared by itself. It does not have to be prepared, but it is being prepared automatically. If numbers were announced or given, then questions would arise, but you are automatically being set, numberwise. Achcha.

BapDada meeting a separate group of kumars: Godly youth group. In the world, those youths carry out their task according to their own intellects, but their task is to destroy things. Your task is to remain constantly co-operative in the task of establishment. If any excuse or problem arises, are you able to find a solution to that easily? BapDada constantly has hopes in the group of kumars. If all the youth were to maintain courage and enthusiasm and be constantly victorious, they could hoist the flag of victory in the world and tour around the whole world. You are progressing in the constantly flying stage. None of you are in the stopping stage, are you? “Youth group” means those who do constantly powerful service. Youth can do whatever they want. Those youths do destructive things whereas you carry out the task of establishment. They create peacelessness, whereas you are embodiments of peace who spread peace. Many preparations are being made for kumars. You are such strong kumars that you never fluctuate. Let it not be that your name is glorified here but that as soon as you go there, you go back into the old world. Some kumars first move along in service with a lot of zeal and enthusiasm, but when there is the slightest conflict they then go back into the old world. Do you like picking up things that you have let go of? All of you have renounced the old world, have you not? If there are any strings tied, you would continue to move about. So constantly consider yourself to be a Godly youth group. If all you kumars become refreshed and go back having become filled with all treasures, then all those seeing you would say that you have come back as deity souls. Create such a plan of wonders. Even the Government is afraid of youth. You will become instruments to show the path to the Government. Let kumars always create powerful plansfor service. However, there also has to be constant balance of remembrance and service. Achcha.

When you have a good morning of remaining constantly free from obstacles, you will remain free from obstacles all the time. When it is the good morning of the golden age, you will remain free from obstacles. It is now the good morning for becoming free from obstacles. You say, “Good day”, do you not? Do you say, “Good morning“? It is good day and good night. So to be constantly free from obstacles means, “May you have a good morning of remaining free from obstacles.” Achcha.

BapDada meeting a group of kumaris:

A kumari life means a life of freedom. Do you constantly remain aware of what you receive through this freedom and what you receive from the One who makes your fortune elevated? Or do you think that you are still kumaris who are studying in college? Always have the awareness: As is the Father, so am I. What is the Father? The Server. So all of you do service, do you not? Are all of you kumaris the beads of the Father’s rosary? Are you sure? You will not become the garland around someone else’s neck, will you? Those who have become the garland around the Father’s neck cannot become the garland around anyone else’s neck. What thought have you had? You cannot go anywhere else even in your thoughts. Are you this strong? By belonging to the one Father, you receive a right to all treasures. Would you let go of all rights and chase after two paisas (a fraction of a rupee)? Those two paisas are also received when you are first beaten. First of all, there is the beating of sorrow and peacelessness and then you eat two chapattis. You don’t like such a life, do you? A kumari life is a fortunate life, and you have become doubly fortunate. You will now take all the papers in a practical way, will you not? Not that paper examination! Constantly have the awareness: I am constantly a Shiv Shakti, I am combined. Kumaris always have to go somewhere or other (after marriage, they go to another home). If you find such an elevated home, what more would you want? Kumaris think that they should find a good husband and a home that is prosperous. This home is so full and prosperous that nothing is lacking. Everyone should receive such fortune! Wah! My fortune! Continue to sing this song. Just as everyone loves the moonlight, so too, become those who give the light of knowledge. Become like a moon of knowledge. Just as the star of your fortune is sparkling, make the star of everyone else’s fortune sparkle too. Everyone will then give you blessings over and over again.

All of you kumaris will claim a scholarship, will you not? To claim a scholarship means to come into the rosary of victory. Make such fast effort that you come into the rosary of victory. You will give the return of all the sustenance you receive, will you not? The return of the sustenance is to become equal to the Father and to claim the scholarship. Therefore, constantly have the determination to be victorious and become a bead of the rosary of victory. Are all of you content with this life? You don’t ever remember that life, that food, drink, touring around etc., do you? Seeing others, you don’t feel like having a little taste of that, do you? That life is a life of coming down, whereas this is a life of climbing up. Who would go from climbing to falling? Remain constantly ever ready. Always remain ready in your own way. In terms of the study, there isn’t any bondage of interest. Where there is a gathering of kumaris, there is definitely growth in service. Wherever there are pure souls, there is always an auspicious task. All of you have passed in the subject of harmonising sanskars amongst yourselves, have you not? There are no complications and your vision and attitude are not drawn anywhere else! Kumaris especially have to claim the certificate of belonging to the one Father and none other. As is your name, bal-brahmcharni (kumaris celibate from birth), so too, let your thoughts also be just as pure. This is known as claiming a scholarship. Then you are right hands. You are the Shiv Shaktis who belong to the one Father and none other. Remember just this and no type of Maya will attack you. Achcha.

At the time of farewell: The mercy of the Satguru has become your inheritance. Therefore, you don’t even need to have the thought, “Have mercy!” You are the children of the Seed of the Tree, and so you have naturally attained the omens of Jupiter and the blessings of the Guru. There is no need to ask for them. You have become free from asking for them and have also been liberated from having any thoughts of them. Does anything remain for which you have to ask? You have become the crown of the Father’s head. What would such a child ask for? So, congratulations and love and remembrance to all the children for the day of the Seed of the Tree and the omens of Jupiter.

Blessing: May you be a knowledgeable soul who experiences spirituality by transforming your worldly attitude and vision.
While living with your worldly relations, do not look at any limited relationship but see the soul. When you see the soul, there will either be happiness or mercy. “This poor soul is under an external influence, ignorant and is innocent”, whereas, I am a knowledge-full soul. Have mercy on that ignorant soul and demonstrate it by transforming that one with your good wishes. To transform your attitude and vision is to have a spiritual life. You knowledge-full souls cannot do the things that ignorant people do. They should be coloured with the colour of your company.
Slogan: To glorify the name of the World Father with your elevated actions is to be a world benefactor.

 

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 1 APRIL 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 April 2018

To Read Murli 31 March 2018 :- Click Here
01-04-18
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
”अव्यक्त-बापदादा”
रिवाइज: 07-05-83 मधुबन

ब्राह्मणों का संसार – बेगमपुर

आज बेगमपुर के बादशाह अपने मास्टर बेगमपुर के बादशाहों से मिलने आये हैं। यह संगमयुगी बादशाहों की सभा है। इसी बादशाही से भविष्य प्रालब्ध प्राप्त करते हैं। बापदादा देख रहे हैं कि सभी बच्चे बेगम अर्थात् किसी भी प्रकार के गम अर्थात् दु:ख से परे, ऐसे बादशाह बने हैं! ब्राह्मणों का संसार बेगमपुर है। संगमयुगी ब्राह्मण संसार के अधिकारी आत्मायें अर्थात् बेगमपुर के बादशाह। संकल्प में भी गम अर्थात् दु:ख की लहर न हो – ऐसे बने हो? बेगमपुर के बादशाह सदा सुख की शैय्या पर, सुखमय संसार में स्वयं को अनुभव करते हो? ब्राह्मणों के संसार वा ब्राह्मण जीवन में दु:ख का नाम निशान नहीं क्योंकि ब्राह्मणों के खजाने में अप्राप्त कोई वस्तु नहीं। अप्राप्ति दु:ख का कारण है, प्राप्ति सुख का साधन है। तो सर्व प्राप्ति स्वरूप अर्थात् सुख स्वरूप! ऐसे सदा सुख स्वरूप बने हो? सुख के साधन – सम्बन्ध और सम्पत्ति यही विशेष हैं। सोचो – अविनाशी सुख का सम्बन्ध प्राप्त है ना! सम्बन्ध में भी कोई एक सम्बन्ध की भी कमी होती है तो दु:ख की लहर आती है। ब्राह्मण संसार में सर्व सम्बन्ध बाप के साथ अविनाशी हैं। कोई एक सम्बन्ध की भी कमी है क्या? सर्व सम्बन्ध अविनाशी हैं तो दु:ख की लहर कैसे होगी। सम्पत्ति में भी सर्व खज़ाने वा सर्व सम्पत्ति का श्रेष्ठ खज़ाना ज्ञान धन है, जिससे सर्व धन की प्राप्ति स्वत: ही हो जाती है। जब सम्पत्ति, सम्बन्ध सब प्राप्त हैं तो बेगमपुर अर्थात् संसार है। सदा सुख के संसार के बालक सो मालिक अर्थात् बादशाह हो। बादशाह बने हो कि अभी बन रहे हो? बापदादा बच्चों के दु:ख की लहर की बातें सुनकर वा देखकर क्या सोचते हैं? सुख के सागर के बच्चे, बेगमपुर के बादशाह फिर दु:ख की लहर कहाँ से आई! अवश्य सुख के संसार की बाउन्ड्री से बाहर चले जाते हैं। कोई न कोई आर्टीफिशल आकर्षण वा नकली रूप के पीछे आकर्षित हो जाते हैं। जैसे कल्प पहले के यादगार कथाओं में दिखाते हैं – सीता आकर्षित हो गई और मर्यादा की लकीर अर्थात् सुख के संसार की बाउन्ड्री पार कर ली, तो कहाँ पहुँच गई? शोक वाटिका में। जब बाउन्ड्री के अन्दर हैं तो जंगल में भी मंगल है, त्याग में भी भाग्य है। बिन कौड़ी होते बादशाह है। बेगरी जीवन में भी प्रिन्स की जीवन है। ऐसा अनुभव है ना! संसार से परे मधुबन में आते हो तो क्या अनुभव करते हो? है छोटे से स्थान पर कोने में लेकिन पहुँचते ही कहते हो कि सतयुगी स्वर्ग से भी श्रेष्ठ संसार में पहुँच गये हैं। तो जंगल में मंगल अनुभव करते हो ना। सूखे पहाड़ों को हीरे जैसा श्रेष्ठ सुख का संसार अनुभव करते हो। संसार ही बदल गया, ऐसा अनुभव करते हो ना। ऐसे ही ब्राह्मण आत्मायें जहाँ भी हो दु:ख के वायुमण्डल के बीच भी कमल समान। दु:ख से न्यारे, बेगमपुर के बादशाह हो। तन के बीमारी के दु:ख की लहर वा मन में व्यर्थ हलचल के दु:ख की लहर वा विनाशी धन के अप्राप्ति की वा कमी के दु:ख की लहर, स्वयं के कमज़ोर संस्कार वा स्वभाव वा अन्य के कमज़ोर स्वभाव और संस्कार के दु:ख की लहर, वायुमण्डल वा वायब्रेशन्स के आधार पर दु:ख की लहर, सम्बन्ध सम्पर्क के आधार पर दु:ख की लहर, अपनी तरफ खींच तो नहीं लेती है! न्यारे हो ना! संसार बदल गया तो संस्कार भी बदल गये। स्वभाव बदल गया इसलिए सुखमय संसार के बन गये। वैसे तो बेगर बन गये अर्थात् यह देह रूपी घर भी अपना नहीं। बेगर हो गये ना। लेकिन बाप के सर्व खज़ानों के मालिक भी तो बन गये। स्वराज्य अधिकारी भी बन गये। ऐसा नशा, खुशी रहती है? इसको ही कहा जाता है बेगमपुर के बादशाह। तो सभी बादशाह बैठे हो ना। बादशाही का हालचाल ठीक चल रहा है? सभी राज्य कारोबारी आपके आर्डर में चल रहे हैं? कोई भी आप बादशाहों को धोखा तो नहीं देता? जी हाजिर वा जी हजूर करने वाले सभी राज्य कारोबारी हैं? अपनी दरबार लगाते हो? राजाओं की तो दरबार लगती है – तो सभी दरबारी यथार्थ कार्य कर रहे हैं? खज़ानों से भण्डारे भरपूर हैं? इतने भण्डारे भरपूर हैं जो सदा महादानी बन दान करते रहो, तो भी अखुट भण्डार हो। चेक करते हो? ब्रह्माकुमार तो बन ही गये, योगी तो बन ही गये, इस अलबेलेपन के नशे में चेकिंग तो नहीं भूल जाते हो? सदा अपने राज्य कारोबार की चेकिंग करो। समझा! चेकिंग करना तो आता है ना। मैजारटी पुराने अनुभवियों का संगठन है ना। अनुभवी अर्थात् अथॉरिटी वाले। कौन सी अथॉरिटी? स्वराज्य की अथॉरिटी। ऐसी अथॉरिटी वाले हो ना! अभी तो आज आये हो। चेकिंग कराने, सर्टीफिकेट लेने आये हो ना कि हम ठीक बादशाह हैं! सर्टीफिकेट लेकर जायेंगे ना कि कौन से राजे हैं – नामधारी हैं या कामधारी! यह सब शीश महल में आपेही देख लेंगे। अच्छा –

सदा सुख के संसार में रहने वाले, बेगमपुर के बादशाहों को, सदा राज्य अधिकारी समर्थ आत्माओं को, सदा सर्व दु:ख की लहरों से न्यारे और सुखदाता बाप के प्यारे, ऐसे अनुभव की अथॉरिटी वाली श्रेष्ठ आत्माओं को बापदादा का याद-प्यार और नमस्ते।

दादियों से:- सभी बाप समान बच्चों को देख बापदादा हर्षित होते हैं। सदा समान आत्मायें अति प्यारी लगती हैं। तो यह सारा संगठन समान आत्माओं का है। बापदादा सदा समान बच्चों को साथी देखते हैं। विश्व की परिक्रमा लगाते तो भी साथ और बच्चों की रेख देख करने जाते तो भी साथ। सदा साथ ही साथ है इसलिए समान आत्मायें हैं ही सदा के योगी। योग लगाने वाले नहीं लेकिन हैं ही लवलीन। अलग ही नहीं हैं तो याद क्या करेंगे। स्वत: याद है ही। जहाँ साथ होता है तो याद स्वत: रहती है। तो समान आत्माओं की स्टेज साथ रहने की है। समाये हुए रहने की है। तो सदा हर कदम में आगे-आगे बच्चे, पीछे-पीछे बाप। हर कार्य में सदा आगे। बच्चे आगे हैं और बाप सकाश तो क्या लेकिन सदा साथ का अनुभव कराते हैं। जैसे बाप औरों को सकाश देते हैं वैसे समान बच्चे भी सकाश देने वाले हो गये। ऐसा संगठन है ना! विशेष मणकों की विशेष माला है। स्वत: तैयार हो रही है ना माला! तैयार करनी नहीं पड़ती लेकिन हो रही है। वैसे अगर नम्बर निकालें या नम्बर दें तो क्वेश्चन उठेंगे लेकिन स्वत: ही नम्बरवार सेट होते जा रहे हैं। अच्छा –

कुमारों के प्रति अव्यक्त बापदादा के मधुर महावाक्य

गॉडली यूथ ग्रुप। लौकिक रीति से वह यूथ ग्रुप अपनी-अपनी बुद्धि अनुसार कार्य कर रहे हैं लेकिन उन्हों का कार्य नुकसान करना है। आप लोगों का काम है स्थापना के कार्य में सदा सहयोगी बनना। कभी कोई भी कारण वा विघ्न आये तो उसका निवारण सहज कर सकते हो? कुमार ग्रुप में बापदादा की सदा उम्मीदें रहती हैं। इतने यूथ हिम्मत और उमंग रख सदा के विजयी बन जाएं तो विश्व में विजय का झण्डा उठाकर सारे विश्व में घूमें। सदा उड़ती कला में जा रहे हो, कोई रुकती कला वाला तो नहीं है। यूथ ग्रुप अर्थात् सदा शक्तिशाली सेवा करने वाले। यूथ जो चाहे वह कर सकते हैं। वह विनाशकारी और आप स्थापना के कार्य वाले। वे अशान्ति मचाने वाले और आप शान्त स्वरूप हो, शान्ति फैलाने वाले हो। कुमारों के लिए तो बहुत तैयारी कर रहे हैं। ऐसे पक्के कुमार हों जो कभी हलचल में न आवें। ऐसे नहीं यहाँ नाम बाला हो और फिर वहाँ पुरानी दुनिया में चले जाएं। कई कुमार पहले बहुत उमंग-उत्साह से सेवा में चलते फिर थोड़ा भी टक्कर हुआ तो पुरानी दुनिया में चले जाते। छोड़ी हुई चीज़ फिर से जाकर लें तो अच्छा लगता है! आप सबने भी पुरानी दुनिया छोड़ दी है ना! अगर कोई रस्सी बंधी होगी तो हिलते रहेंगे। तो सदा अपने को गॉडली यूथ ग्रुप समझो। इतने सब कुमार रिफ्रेश होकर, खज़ानों से भरपूर होकर जायेंगे तो देखने वाले कहेंगे यह देवात्मा बनकर आ गये। ऐसा कोई कमाल का प्लैन बनाओ। यूथ को देखकर गवर्मेन्ट भी घबराती है। गवर्मेन्ट को भी रास्ता दिखाने के निमित्त आप लोग बनेंगे। कुमारों को सदा सेवा के शक्तिशाली प्लैन बनाने चाहिए। परन्तु याद और सेवा का सदा बैलेन्स रहे। अच्छा –

सदा निर्विघ्न रहने की गुडमार्निंग जब होगी तो निर्विघ्न होंगे ना! जब सतयुग गुडमार्निंग होगा तो निर्विघ्न होंगे। अभी निर्विघ्न बनने की गुडमार्निंग। शुभ दिन कहते हैं ना। शुभ प्रात:, कहते ही शुभ प्रात: हैं। शुभ दिन है और शुभ रात्रि है। तो सदा निर्विघ्न अर्थात् शुभ, इसलिए निर्विघ्न भव की गुडमार्निंग। अच्छा।

कुमारियों के प्रति अव्यक्त बापदादा के महावाक्य :- कुमारी जीवन अर्थात् स्वतंत्र जीवन, इस स्वतंत्रता से क्या मिलता है और श्रेष्ठ भाग्य बनाने वाले से क्या मिलता है – यह सदा स्मृति में रहता है? या समझती हो कि हम तो कालेज में पढ़ने वाली लड़कियाँ हैं। सदा यह स्मृति में रखो जैसा बाप वैसी मैं। बाप क्या है? सेवाधारी है। तो सभी सेवा करती हो ना! सभी कुमारियाँ बाप की माला के मणके हो? पक्का? और किसके गले की माला तो नहीं बनेंगी। जो बाप के गले की माला बन गई वह दूसरों के गले की माला नहीं बन सकती। क्या संकल्प किया है? और कहाँ स्वप्न में भी नहीं जा सकती। ऐसे पक्के? एक बाप के बने और सर्व खज़ानों के अधिकारी बन गये। सर्व अधिकार छोड़कर दो पैसों के पीछे जायेंगे क्या! वह दो पैसे भी तब मिलते जब दो चमाट लगाते हैं। पहले दु:ख की, अशान्ति की चमाट लगती फिर दो रोटी खाते। ऐसी जीवन तो पसन्द नहीं है ना? कुमारी जीवन वैसे भी भाग्यवान है और भी डबल भाग्यवान बन गई। अभी सर्व प्रैक्टिकल पेपर देंगी ना! वह कागज़ वाला पेपर नहीं। सदा शिव शक्ति हैं, कम्बाइन्ड हैं – यह स्मृति सदा रखना। कुमारियों को कहाँ न कहाँ जाना तो होता ही है। अगर ऐसा श्रेष्ठ घर मिल जाए तो और क्या चाहिए। कुमारियाँ सोचती हैं अच्छा वर, भरपूर घर मिले। यह कितना भरपूर घर है जहाँ कोई अप्राप्ति नहीं। ऐसा भाग्य तो सबको मिलना चाहिए। वाह मेरा भाग्य… यही गीत गाओ। जैसे चन्द्रमा की चांदनी सबको प्रिय लगती है ऐसे ज्ञान की रोशनी देने वाली बनो। ज्ञान चन्द्रमा समान बनो। जैसे स्वयं के भाग्य का सितारा चमका है, ऐसे ही सदा औरों के भाग्य का सितारा चमकाओ। तो सभी आपको बार बार आशीर्वाद देंगे।

सभी कुमारियाँ स्कालरशिप लेंगी ना। स्कालरशिप लेना माना विजय माला में आना। ऐसा तीव्र पुरूषार्थ हो जो विजयमाला में आ जाओ। इतनी पालना जो ले रहे हो उसका रिटर्न तो देंगी ना। पालना का रिटर्न है बाप समान बनना, स्कालरशिप लेना। तो सदा यह दृढ़ संकल्प रखो कि विजयी बन विजय माला के मणके बनने वाले हैं। सभी इस जीवन से सन्तुष्ट हो? कभी वह जीवन खाना, पीना, घूमना – यह याद तो नहीं आता। दूसरों को देखकर यह नहीं आता कि हम भी थोड़ा टेस्ट तो करें। वह जीवन गिरने की जीवन है – यह जीवन चढ़ने की जीवन है। चढ़ने से गिरने की तरफ कौन जायेगा। सदा एवररेडी रहो। अपने रीति से सदा तैयार रहो। कोई पढ़ाई की रीति से शौक का बन्धन नहीं। जहाँ कुमारियों का सगंठन है वहाँ सेवा में वृद्धि है ही। जहाँ शुद्ध आत्मायें हैं वहाँ सदा ही शुभ कार्य है। सभी आपस में संस्कार मिलाने की सबजेक्ट में पास हो ना। कोई खिटखिट नहीं, कहाँ भी दृष्टि वृत्ति नहीं! एक बाप दूसरा न कोई… विशेष कुमारियों को इस बात में सर्टीफिकेट लेना है। जैसे नाम है बाल ब्रह्मचारिणी… वैसे संकल्प भी ऐसा पवित्र हो – इसको कहा जाता है स्कालरशिप लेना। फिर राइटहैण्ड हो। सदा एक बाप दूसरा न कोई – ऐसी शिव शक्तियाँ हैं। यही याद रखना तो किसी भी प्रकार की माया वार नहीं करेगी। अच्छा।

विदाई के समय:- सतगुरु की कृपा आपका वर्सा बन गया इसलिए कृपा करो, यह संकल्प करने की भी आवश्यकता नहीं। हो ही वृक्षपति के बच्चे। तो बृहस्पति की दशा, गुरू की कृपा सब स्वत: ही प्राप्त है। मांगने की आवश्यकता ही नहीं। मांगने से छूट गए, संकल्प करने से भी छुड़ा दिया। अभी मांगने का कुछ रहा है क्या! बाप के भी सिर के ताज हो गये। वह माँगेगा क्या! तो वृक्षपति दिवस की, बृहस्पति के दशा की सदा ही बच्चों को बधाई सहित याद-प्यार। ओम् शान्ति।

वरदान:- लौकिक वृत्ति दृष्टि का परिवर्तन कर अलौकिकता का अनुभव करने वाले ज्ञानी तू आत्मा भव 
लौकिक सम्बन्धों में रहते हद के सम्बन्ध को न देख आत्मा को देखो। आत्मा देखने से या तो खुशी होगी या रहम आयेगा। यह आत्मा बेचारी परवश है, अज्ञान में है, अंजान है, मैं ज्ञानवान आत्मा हूँ तो उस अंजान आत्मा पर रहम कर अपनी शुभ भावना से बदलकर दिखाऊंगी। अपनी वृत्ति और दृष्टि को बदलना ही अलौकिक जीवन है, जो काम अज्ञानी करते वह आप ज्ञानी तू आत्मा नहीं कर सकते। आपके संग का रंग उन्हें लगना चाहिए।
स्लोगन:- अपने श्रेष्ठ कर्म से विश्व पिता का नाम बाला करना ही विश्व कल्याणकारी बनना है।

BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 30 MARCH 2018 – Aaj Ka Purusharth

To Read 29 March Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

*Om Shanti*
*30.03.2018*

★【 *आज का पुरुषार्थ*】★

जो बच्चे, जबसे बाबा पढ़ाने आया है, तब से ऊँचे स्वमान में स्थित होने का पुरूषार्थ कर रहे हैं अर्थात् स्वयं पर attention रख स्वयं को realise कर रहे हैं, उन आत्माओं को अब धीरे-धीरे चारों तरफ से सम्मान मिलना शुरू हो जायेगा। सभी आत्मायें उन्हें ऊँची दृष्टि से देखेंगी।

बच्चे, स्वयं को अब बाप का सबसे ऊँचा, बहुमूल्य हीरा समझो।

सोचो कि मेरी चमक से ही यह विश्व रोशन होगा।
जितना-जितना आप यह realise करते जाओंगे, तो आपकी चमक बढ़ती जायेंगी।

बच्चे, केवल योग में ही नहीं बल्कि आपको चलते-फिरते, कर्म करते अपने ऊँच स्वमान में स्थित होने का पुरूषार्थ बढ़ाना है।

हर पल स्वयं पर attention रखना है। चाहे कर्म साधारण हो परन्तु आपकी स्थिति ऊँची होनी चाहिए।

इसलिए अब विशेष स्वयं के ऊँचे स्वमान पर attention रखना है, जितना आप स्वयं पर attention रखोगे, उतनी जल्दी आप विश्व के आगे प्रत्यक्ष होगे।

और दूसरा आपसे निकलती powerful vibrations वातावरण और आत्माओं को परिवर्तन कर देगी, तब ही तो विश्व का परिवर्तन होगा…।

बस, अब आप अपने original स्वरूप को, भिन्न-भिन्न ऊँचे स्वमान को realise करो।

ऊँचे स्वमान के अभ्यास से ही आप सर्वगुण सम्पन्न बन जाओगे।

बच्चे, जो बहुमूल्य चीज़ होती है वह दूर से ही सबको आकर्षित करती है और आप बच्चे तो बाप के अर्थात् इस दुनिया के रचयिता परमपिता परमात्मा के दिलतख्तनशीन बच्चे हो, तो बताओ आपका आकर्षण अन्य आत्माओं को कैसे ना होगा…!
बस आप भी बाप को अपने दिल में बसा लो…।

अच्छा । ओम् शान्ति ।

【 *Peace Of Mind TV* 】
Tata Sky # 1065 | Dish TV # 1087 | Airtel # 678 | Videocon # 497 | 

TODAY MURLI 31 MARCH 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 31 March 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 30 March 2018 :- Click Here

31/03/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, settle the accounts of your past sins with knowledge and the power of yoga and accumulate your new account of charity. Become ever healthy and wealthy with the power of yoga.
Question: What specialities of the confluence age cannot exist at any time throughout the rest of the cycle?
Answer: Only after 5000 years does the lovely, auspicious meeting of souls with the Supreme Soul take place at the confluence age. This is the only time for the children to meet the Father and claim their inheritance. Only at this time does the Father give knowledge for all souls. He becomes the Liberator for all. It is only at the confluence age that the sapling of the deity religion is planted; those who were converted into other religions emerge again. Everyone settles his or her past karmic accounts and returns home. No other age has such specialities.

Om shanti. You must definitely mention the name ‘Supreme Father Shiva’. Many people speak of the Supreme Soul, Khuda or God. However, the name of the Father is definitely needed. The name of the Father is Shiva. He is incorporeal. In fact, souls are also incorporeal. They become corporeal when they come here. It is said that the Supreme Father, the Supreme Soul, sends the children and the preceptors from there to play their parts. When people speak of God, the Father, they don’t have their physical father in their intellects. They are fathers of their children. However, when they say, “O Supreme Father!” their intellects go upwards. It is the soul that remembers. It is also the soul that remembers the physical father who gives the soul a body. Souls should then remember their original Father, should they not, but who is He? Who calls Him the Father? Why do people ask Him for mercy? Everyone knows that He is the Father of everyone. However, if everyone is the Father, then calling out in that way is not justified. They say that God gave them everything, that God even gave them a child. Therefore, they definitely remember God. They call out: Come and purify us! Liberate us from this sorrow! So, He would definitely take you somewhere. He liberates everyone and takes them to the land of peace or the land of happiness. He comes at the confluence age of each cycle. It isn’t that He comes in the middle of a cycle. Only when the play is to end does He come to take everyone back. The Father says: I only come once. I do not have to come again and again. I come once when all souls have become tamopradhan, because they definitely have to complete their 84 births. If I were to come before that, the cycle of 84 births could not be completed. The cycle has to reach its end. When I have to come, I first have to become the Father of the children. Then I also become the Teacher and Satguru. A father gives you birth, a teacher gives you teachings for your livelihood and a guru is adopted for salvation. Gurus are adopted here. No one in the golden age adopts a guru. There is only the father and teacher there. It isn’t that their father also becomes their teacher and teaches them. Their father is separate from their teacher. Here, the One is the Father, Teacher and Guru. You children have been adopted. You are the mouth-born creation and then you have the study. So, the Father explains to you the secrets of the beginning, the middle and the end of the whole world. He tells you the knowledge of the whole world cycle and who the main actors and the Creator in the drama are. He gives you the news of the incorporeal world, the subtle region and the corporeal world, of how this whole cycle turns and who goes first into the new world. First of all, you children have to know that He is our unlimited Father. Even this Brahma says: My Father is Shiva. Brahma is the son of Shiva. Shiv Baba says: This Brahma too is a child. I have to enter him, and so I have adopted him. Originally, his name was Lekhraj and I then named him Brahma. I made him belong to Me. People say, “Baba, Baba!” but without knowing Him. They go in front of an image of Shiva, but they have no deep understanding in their hearts that He is their Father. When someone sees a photograph of his physical father, he would instantly say that he is his father. This doesn’t come out so deeply from their hearts when they are in front of an image of Shiva. Although they consider Him to be God, they don’t say it from deep within that He is their Father. They simply salute Him according to the systems of devotion. It doesn’t enter their intellects what attainment they receive from Him. The Father sits here and explains this. He gives many points to instil faith in you, but children forget. This knowledge is for those of all religions. Whether someone is from the military or is a civilian, this knowledge is for everyone. You children know that Shiv Baba is your Father, Teacher and Satguru. This is our very old meeting. He has come after 5000 years. This is called the lovely, auspicious meeting of souls with the Supreme Soul. The Supreme Father, the Supreme Soul, comes and meets all souls. It is only at this time that He becomes everyone’s Liberator. Not everyone will take these teachings. Only those who are to become deities will take these teachings. The human world tree is so big. The saplingis taken from it. Nowadays, the Government plants many different types of sapling. The Father also plants saplings and then those who belong to this clan emerge. The sapling is planted of only those who belong to the deity clan and this foundation. You originally belong to the deity religion. The sapling of other religions will then also be planted. Those who have been converted will emerge. Such a variety of Muslims and Parsees etc. come here. Only the sapling of our deity tree will continue to be planted. You children now understand in a practical way that only that one Father is our Father, Teacher and Satguru. People say that their father gave them birth and that such-and-such a teacher taught them. Then, towards the end, they adopt a guru. Some don’t even have gurus. Everyone has his or her own beliefs. They definitely remember someone or other. They remember their father or their friends and relatives. You now have to forget the remembrance of everyone else and only remember the one Father. He is the true Father, the true Teacher and the Satguru. He is the One who establishes the land of truth. He tells you the history and geography of the beginning, the middle and the end of the whole world cycle. We have become spinners of the discus of self-realisation and so we definitely have to remember the cycle. You know how the world cycle turns from the beginning to the end. It is only at the confluence age of the cycle that you know this. No one can know this in the middle of the cycle. The Father teaches you every cycle at the confluence age of the cycle. No one else can explain to you the secret of the history and geography of the world. Only the Father can explain these things to you. You become spinners of the discus of self-realisation through the Father and you then become the kings who rule the globe. There, this knowledge will have disappeared. When the play ends, the part of the kingdom that the soul has recorded in him will begin. At this time, your parts are that of studying. Baba’s coming and teaching knowledge to the children, enabling them to claim a high status, is Baba’s part at the present time. Once you have attained your status, everything will be over and the knowledge of the world cycle will then disappear. No human being has knowledge of this world cycle. Sannyasis don’t even believe in the cycle. On seeing the picture of the tree, they say that that is just imagination. Therefore, you children also have to imbibe this. If there isn’t accurate yoga, you are not able to imbibe and your intellects won’t be able to become pure. It is said: The milk of a lioness can only be kept in a golden vessel. Therefore, you children receive this nectar of knowledge. Only when the vessel changes from iron to gold will you imbibe it. Very good effort is made for this. It is very easy to know the world history and geography, who used to rule in the golden age and for how long they ruled. There is the dynasty. Therefore, it is said that the deity dynasty ruled for 1250 years. Did they claim their kingdom through battling? No; they received the reward of the efforts they made at this time. Anyone you explain this whole cycle will become very happy even though they may belong to the military. Military people used to come in Delhi. Baba used to ask them: Have you heard that, when the Gita is read, it says: God speaks: Those who die on a battlefield will attain Me and will become residents of heaven. However, it doesn’t mean that simply by reading or listening to the Gita you can go to heaven. If you want to become a resident of heaven and claim your inheritance from the Father, then remember Him and follow shrimat. Only at this time do you receive this knowledge because it is only now that the gates to heaven are opened. This knowledge is only for the present time. Practise remembering Shiv Baba. The unlimited Father now tells you: Remember Me. Instead of those gurus, you now have to remember Shiv Baba. This requires effort. That Father is the Father of all. It is only from Him that you can receive your inheritance of heaven. The inheritance of peace and happiness is received from Him. This is the time to meet the Father, that is, of receiving your inheritance from Him. There was just the one religion in the golden age and so it is the work of only the Supreme Father, the Supreme Soul, to destroy the innumerable religions and establish the one religion. No one else can do this. Those who study with the Father and learn Raja Yoga will go to heaven. You know that it is now the end of the iron age. The great war is in front of you. Those who study will also claim a high status. Everyone else will settle their karmic accounts and return home. You now have to settle the account of your sins in a practical way and accumulate in your account of charity. The more you stay in knowledge and yoga, the more the accounts of the past will be burnt and new ones will continue to accumulate. Your lifespan will increase with the power of yoga. You will continue to become ever healthy and wealthy. You receive both through knowledge and yoga. This is a hospital and also a college for you. In fact, this is the true university. A Government University shouldn’t be called a university. The whole world is called the universe. There is no knowledge for the world in them. All of them are limited. They have created so many limits. In Hindi, a university is called Vishwa Vidhyalaya. Anyone in the whole world can come and study. It is not like that in those universities. Anyone can come and study here. Only the Creator of the World establishes this university. We also write this. What is the difference between Vidhyalaya and a University? One is a Hindi word and the other is an English word. The Creator of the World has created this Vishwa Vidhyalaya. It is where the Father changes you human beings into deities and makes you into kings of kings. He liberates you. You receive shrimat. However, those who follow devilish dictates don’t believe in shrimat. Here, you become so elevated by following this shrimat. You are making Bharat into heaven with your bodies, minds and wealth and in an incognito way. Baba, too, comes here in an incognito way. Krishna cannot be incognito. However, because of not knowing the Father, they have put Krishna’s name in the Gita, and they have shown the dance of Krishna. The princes and princesses would dance among themselves. The people cannot go there. The Father explains many things. He says: Take the wealth of knowledge and continue to donate it. This study is very elevated, and you have to study it in an ordinary way. You cannot sit in the lotus position on a chair. To sit in the lotus position is a royal way to sit. Nevertheless, you can sit in any way. In the golden age, you will have a golden spoon in the mouth. Children have had visions of how aeroplanes filled with gold come. The palaces etc. are built very quickly. Even now, in Baba’s day, look how electricity and cars etc. have been invented. In the early days, grain was so cheap. So it would be so cheap in the golden age. Here a gold coin costs 100 rupees, and there it would be one paisa (1/100th of a rupee). There is so much difference. You receive a kingdom for 21 births through the study in one birth and so what more could you want? Baba continues to show you methods. If a daughter doesn’t take knowledge, her parents have to get her married. If a son doesn’t get married, he would be told to earn his own living and then get married. Baba gives you advice about everything. If you want to go to a wedding ceremony, simply accept fruit there and eat it in remembrance of Shiv Baba and that will then be purified. Achcha.

To BapDada’s sweetest, beloved, long-lost and now-found decoration of the Brahmin clan, the spinners of the discus of self-realisation, the lights of the eyes, love, remembrance and good morning. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Donate the wealth of knowledge you have received from the Father. Study in an incognito way and claim a kingdom for 21 births.
  2. Forget the remembrance of everyone else and remember the one Father in the form of the true Father, the true Teacher and the Satguru.
Blessing: May you be a multimillionaire and accumulate at every second by having remembrance of the Father, the Point.
You children can accumulate an income of more than multimillions at every second. When you put a zero beside “1” it becomes “10”, then add another zero and it becomes a “100”. In the same way, remember the Father, the Point for one second, and as soon as the second has passed, a zero is added. You children are those who earn such a huge income that not only do you become multimillionaires for this time, but you will continue to eat from it for many births. The Father is proud of the children who earn such an income.
Slogan: To put right a spoilt task, spoilt sanskars or a spoilt mood with good wishes is the most elevated service.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 31 MARCH 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 31 March 2018

To Read Murli 30 March 2018 :- Click Here
31-03-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – ज्ञान और योगबल से पुराने पापों के खाते को चुक्तू कर नया पुण्य का खाता जमा करना है, योगबल से एवरहेल्दी वेल्दी बनना है”
प्रश्नः- संगमयुग की विशेषतायें कौन सी हैं, जो सारे कल्प में नहीं हो सकती हैं?
उत्तर:- संगमयुग पर ही 5 हजार वर्ष के बाद आत्मा और परमात्मा का प्यारा मंगल मिलन होता है। यही समय है बाप से बच्चों के मिलने और वर्सा लेने का। बाप सभी आत्माओं के लिए इसी समय ज्ञान देते हैं, सबका लिबरेटर बनते हैं। संगमयुग पर ही देवी-देवता धर्म की सैपलिंग लगती है, जो दूसरे धर्म में कनवर्ट हो गये हैं वह निकल आते हैं। सभी अपना-अपना पुराना हिसाब-किताब चुक्तू कर वापस जाते हैं। ऐसी विशेषतायें और किसी युग की नहीं हैं।

ओम् शान्ति। परमपिता शिव नाम जरूर लेना है। परमात्मा अथवा खुदा, गॉड तो बहुत ही कह देते हैं। परन्तु फादर का नाम जरूर चाहिए। फादर का नाम है ही शिव। निराकार है ना। आत्मायें भी वास्तव में निराकार हैं। यहाँ आकर साकार बनती हैं। कहा जाता है परमपिता परमात्मा वहाँ से बच्चों को अथवा प्रीसेप्टर को भेज देते हैं पार्ट बजाने। अब गॉड फादर जब कहते हैं तो मनुष्य की बुद्धि में लौकिक बाप नहीं आयेगा। वह तो अपने बच्चों का फादर है। परन्तु हे परमपिता कहने से बुद्धि ऊपर चली जाती है। आत्मा ही याद करती है। जिस्मानी फादर को भी आत्मा ही याद करती है, जो जिस्म देते हैं। फिर आत्माओं का जो असली बाप है उनको भी याद करेंगे ना। परन्तु वह कौन है, कौन उनको फादर कह बुलाते हैं? क्यों उनसे रहम मांगते हैं? वह सबका बाप है – यह तो सब जानते हैं। लेकिन अगर सब बाप ही बाप हैं, तो फिर यह पुकार सिद्ध नहीं होती है। कहते हैं परमात्मा ने ही सब कुछ दिया है। यह बच्चा भी परमात्मा ने दिया है। तो गॉड को जरूर याद करते हैं। पुकारते हैं आकरके हमको पावन बनाओ, लिबरेट करो, इन दु:खों से। तो जरूर कहाँ तो ले जायेंगे ना। सभी को लिबरेट कर शान्तिधाम वा सुखधाम में ले जाते हैं। कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुग पर ही आते हैं। ऐसे नहीं बीच में आते हैं। सबको ले जाने तब आयेंगे जब नाटक पूरा होना है। बाप कहते हैं मैं एक ही बार आता हूँ। मुझे कोई घड़ी-घड़ी आना नहीं पड़ता है। मैं एक बार आता हूँ, जब सब तमोप्रधान बन पड़ते हैं क्योंकि 84 जन्म तो जरूर पूरे करने हैं। अगर पहले आऊं तो 84 का चक्र पूरा हो न सके। चक्र का पूरा अन्त आना चाहिए ना। जब आना होता है तब फिर बच्चों का आकर पहले-पहले बाप बनता हूँ, फिर टीचर, सतगुरू भी बनता हूँ। बाप जन्म देते हैं, टीचर शरीर निर्वाह अर्थ शिक्षा देते हैं और गुरू किया जाता है सद्गति के लिए। गुरू यहाँ ही किये जाते हैं, सतयुग में कोई गुरू नहीं करते हैं। वहाँ बाप और टीचर होते हैं। ऐसे नहीं कि बाप टीचर बन पढ़ाते हैं। बाप अलग, टीचर अलग होते हैं। यहाँ यह बाप, टीचर, गुरू एक ही है। तुम बच्चों को एडाप्ट किया है। तुम हो मुख वंशावली, फिर चाहिए पढ़ाई। तो सारी सृष्टि चक्र के आदि-मध्य-अन्त का राज़ समझाते हैं। ड्रामा में मुख्य क्रि येटर, मुख्य एक्टर कौन-कौन हैं। सारे विश्व के चक्र की नॉलेज बताते हैं। मूलवतन, सूक्ष्मवतन, स्थूलवतन का सारा समाचार बताते हैं। यह सारा चक्र कैसे फिरता है, पहले-पहले नई दुनिया में कौन-कौन आते हैं! पहले-पहले तो बच्चों को यह जानना चाहिए कि वह हमारा बेहद का बाप है। यह ब्रह्मा भी कहते हैं हमारा बाप यह शिव है। ब्रह्मा वल्द शिव। शिवबाबा भी कहते हैं यह ब्रह्मा बच्चा है। मुझे इनमें प्रवेश करना है, तो मैंने इनको एडाप्ट किया। पहले इनका नाम असुल लेखराज़ था, फिर ब्रह्मा नाम रखा है। मैंने इनको अपनाया है। मनुष्य बाबा-बाबा कहते हैं परन्तु बिगर जाने। शिव के चित्र के आगे जाते हैं परन्तु वह हड्डी दिल से समझते नहीं हैं कि यह हमारा बाप है। लौकिक बाप का अगर कोई चित्र देखते हैं तो झट कहेंगे यह हमारा बाप है। शिव के आगे वह हड्डी नहीं निकलेगा। भल उनको परमात्मा समझते भी हैं परन्तु उस रूचि से हड्डी (जिगरी) नहीं कहेंगे कि हमारा बाप है। सिर्फ वन्दना करते हैं भक्तिमार्ग की रसम अनुसार। उनसे प्राप्ति क्या होती है, वह बुद्धि में आयेगा नहीं। यह बाप बैठ समझाते हैं। निश्चय करने के लिए प्वाइंटस तो बहुत देते हैं परन्तु बच्चे भूल जाते हैं। सभी धर्म वालों के लिए यह ज्ञान है। चाहे मिलेट्री का हो, चाहे सिविलियन हो, ज्ञान सबके लिए है।

तुम बच्चे जानते हो शिवबाबा हमारा बाप, टीचर, सतगुरू है। यह हमारा बहुत पुराना मिलन है। पांच हजार वर्ष के बाद आये हैं। इसे आत्माओं और परमात्मा का प्यारा मंगल मिलन कहते हैं। परमपिता परमात्मा आकर सभी आत्माओं से मिलते हैं। इस समय ही सबका लिबरेटर बनते हैं। सभी तो शिक्षा नहीं लेंगे। शिक्षा वह लेंगे जो देवता बनने वाले होंगे। मनुष्य सृष्टि का इतना बड़ा झाड है, इनसे सैपलिंग लगाते हैं। आज गवर्मेन्ट भी किसम-किसम की सैपलिंग लगाती रहती है। बाबा भी सैपलिंग लगाते हैं फिर जो इस कुल के हैं वह निकल आते हैं। जो देवी-देवता धर्म वाला वा इस फाउन्डेशन वाला होगा उनका ही सैपलिंग लगता है। तुम असुल देवी-देवता धर्म के हो फिर और-और धर्म वालों का भी सैपलिंग लगेगा, जो कनवर्ट हो गये होंगे वह निकल आयेंगे। किसम-किसम के मुसलमान, पारसी आदि आते हैं ना। अपने दैवी धर्म के झाड की ही सैपलिंग लगती रहेगी। अब तुम बच्चे प्रैक्टिकल में समझते हो वह एक ही बाप हमारा बाप, टीचर, सतगुरू है। मनुष्य तो कहेंगे बाप ने हमको जन्म दिया, फिर फलाने टीचर ने पढ़ाया। फिर पिछाड़ी में गुरू करते हैं। कोई नहीं भी करते हैं। हर एक की अपनी-अपनी मान्यता है। कोई न कोई का सिमरण जरूर करते हैं। बाप को याद करेंगे वा कोई मित्र सम्बन्धी को याद करेंगे। अब तुमको और सबकी याद भूल एक बाप को ही याद करना है। वही सत्य बाप, सत्य टीचर, सतगुरू है। सच खण्ड की स्थापना करने वाला है। सारे सृष्टि के आदि मध्य अन्त के चक्र की हिस्ट्री-जॉग्राफी बताते हैं। हम स्वदर्शन चक्रधारी बने हैं तो जरूर चक्र याद करना पड़े। यह सृष्टि का चक्र कैसे फिरता है, शुरू से अन्त तक चक्र को जानते हो और यह कल्प के संगमयुग पर ही जान सकते हो। बीच में तो कोई जान न सके। बाप पढ़ाते ही हैं कल्प-कल्प, कल्प के संगमयुग पर। सारे वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी का राज़ और कोई भी समझा न सके, बाप ही समझाते हैं। बाप द्वारा तुम स्वदर्शन चक्रधारी बन चक्रवर्ती राज़ा बनते हो। वहाँ यह नॉलेज फिर गुम हो जाती है। नाटक पूरा हुआ फिर आत्मा के अन्दर जो पार्ट है राजाई का, वह शुरू होगा। इस समय तुम्हारा पार्ट है सीखने का। बाबा का आना, बच्चों को नॉलेज सिखलाना, ऊंच पद प्राप्त कराना – अभी का पार्ट है। पद प्राप्त कर लिया फिर खत्म। फिर यह सृष्टि चक्र की नॉलेज प्राय:लोप हो जाती है। कोई भी मनुष्य को इस सृष्टि चक्र का नॉलेज नहीं है। सन्यासी तो चक्र को मानते ही नहीं। झाड को देख कहते हैं यह तो कल्पना है। तो तुम बच्चों को भी धारणा करनी है। योग पूरा नहीं होगा तो धारणा होगी नहीं। बुद्धि प्योर बन न सके। कहते हैं ना शेरणी का दूध सोने के बर्तन में ही ठहर सकता है। तो यह भी ज्ञान अमृत बच्चों को मिलता है। बर्तन लोहे से बदलकर सोने का होगा तब ही धारणा होगी, इसमें अच्छा पुरुषार्थ किया जाता है। बहुत सहज है, वर्ल्ड की हिस्ट्री-जॉग्राफी को जानना है। सतयुग में कौन राज्य करते थे, कितना समय किया, घराना होता है ना। तो उसको कहेंगे डीटी डिनायस्टी ने 1250 वर्ष राज्य किया, क्या लड़ाई से राज्य लिया? नहीं। अभी के पुरुषार्थ की प्रालब्ध पाई है। यह सारा चक्र तुम किसको भी समझाओ तो बहुत खुश होंगे। भल मिलेट्री के हों, देहली में आते थे ना। उन्हों को भी बाबा समझाते थे ना कि तुमने सुना है, जब गीता सुनाई जाती है तो उसमें भगवानुवाच है – जो युद्ध के मैदान में मरेंगे वह मुझे प्राप्त करेंगे, स्वर्गवासी होंगे। परन्तु ऐसे नहीं कि सिर्फ गीता पढ़ते वा सुनते हैं तो स्वर्ग में चले जाते हैं, तुमको अगर स्वर्गवासी बनना है, बाप से वर्सा लेना है तो बाप को याद करो, श्रीमत पर चलो। यह ज्ञान अभी ही मिलता है क्योंकि अभी स्वर्ग के द्वार खुलते हैं। यह ज्ञान अभी के लिए ही है। शिवबाबा को याद करने की प्रैक्टिस करनी है।

अभी बेहद का बाप समझाते हैं मुझे याद करो। उस गुरू के बदले एक शिवबाबा को याद करना पड़े। मेहनत है। वह बाप सभी का एक ही है। उस द्वारा ही स्वर्ग का वर्सा मिल सकता है। शान्ति सुख का वर्सा उनसे मिलता है। यह समय है ही बाप द्वारा बाप से मिलने का अथवा वर्सा पाने का। सतयुग में था ही एक धर्म तो अनेक धर्म विनाश और एक धर्म की स्थापना का काम परमपिता परमात्मा का ही है, दूसरा कोई कर न सके। जो बाप द्वारा पढ़ते हैं, राज़योग सीखते हैं वह स्वर्ग में चले जाते हैं। तुम जानते हो अब कलियुग का अन्त है। महाभारी लड़ाई भी सामने खड़ी है, जो पढ़ेंगे वही पद पायेंगे। बाकी सब हिसाब-किताब चुक्तू कर वापिस चले जाने वाले हैं। तुमको अभी प्रैक्टिकल में अपने पापों का खाता चुक्तू कर और पुण्य का खाता जमा करना है। जितना-जितना ज्ञान और योग में रहेंगे तो पुराना खाता भस्म हो नया जमा होता जायेगा। योगबल से तुम्हारी आयु बढ़ेगी। तुम एवरहेल्दी, वेल्दी बनते जायेंगे। ज्ञान और योग से दोनों मिलते हैं। यह तुम्हारे लिए हॉस्पिटल भी है तो कालेज भी है। वास्तव में सच्ची-सच्ची युनिवर्सिटी यह है। गवर्मेन्ट की जो युनिवर्सिटी हैं उनको युनिवर्सिटी नहीं कहेंगे। युनिवर्स तो सारे विश्व को कहा जाता है। उसमें विश्व की नॉलेज कोई है नहीं। वह सब है हद की। कितनी हदें डाल दी हैं। युनिवर्सिटी को हिन्दी में कहा जाता है विश्व विद्यालय। सारे विश्व से कोई भी आकर पढ़े। उस युनिवर्सिटी में तो ऐसा हो न सके। यहाँ कोई भी आकर पढ़ सकते हैं। विश्व का रचयिता ही यह विश्व विद्यालय स्थापन करते हैं। हम लिखते भी ऐसे हैं। अब विश्व विद्यालय या युनिवर्सिटी में फ़र्क क्या है। वह हिन्दी, वह अंग्रेजी अक्षर है। यह विश्व के रचयिता ने विश्व विद्यालय रचा है। जहाँ बाप मनुष्य को देवता, राज़ाओं का राज़ा बनाते हैं। लिबरेट करते हैं। श्रीमत तो मिलती है परन्तु आसुरी मत वाले श्रीमत को भी मानते नहीं। यहाँ इस श्रीमत से कितना श्रेष्ठ बनते हैं। अपने तन-मन-धन से भारत को स्वर्ग बना रहे हैं और है सारा गुप्त। बाबा भी गुप्त आते हैं। कृष्ण तो गुप्त हो न सके। परन्तु बाप को न जानने के कारण कृष्ण का नाम गीता में डाल दिया है और फिर कृष्ण की डांस दिखाई है। वह तो प्रिन्स प्रिन्सेज आपस में करते होंगे। वहाँ प्रजा थोड़ेही जा सकती है। बाप समझाते तो बहुत हैं। कहते हैं ज्ञान धन लेकर फिर दान करते जाओ। बड़ी ऊंच पढ़ाई है और पढ़ना भी ऐसे साधारण है। कुर्सी पर तो आसन लगा न सकें। यह टांग-टांग पर चढ़ाकर बैठना यह राजाई बैठक ठीक है। यूं तो तुम कैसे भी बैठो। सतयुग में तो गोल्डन स्पून इन माउथ है। बच्चों ने साक्षात्कार भी किये हैं। कैसे विमानों में सोना भरकर आते हैं। महल आदि बहुत जल्दी सब कुछ बन जाता है। अब भी बाबा के देखते-देखते बिजली मोटर आदि क्या-क्या बन गये हैं। आगे अनाज कितना सस्ता था। तो सतयुग में कितना सस्ता होगा। यहाँ सोने के सिक्के की कीमत 100 रूपया है तो वहाँ एक पैसा होगी। तो कितना फ़र्क है। तो तुमको एक जन्म की पढ़ाई से 21 जन्मों की राज़ाई मिलती है और क्या चाहिए। बाबा युक्तियां बताते रहते हैं। बच्ची अगर ज्ञान नहीं लेती है तो उनको शादी करानी पड़े। बच्चा अगर ज्ञान न लेवे तो कहेंगे जाकर अपना कमाओ और शादी करो। बाबा राय तो हर बात की देते हैं। शादी पर जाना है तो सिर्फ फल लेकर शिवबाबा को याद कर खायेंगे तो वह पवित्र बन जायेगा। अच्छा!

बापदादा का मीठे-मीठे सिकीलधे ब्राह्मण कुल भूषण स्वदर्शन चक्रधारी नूरे रत्नों प्रति यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप से जो ज्ञान धन लिया है उसका दान करना है। गुप्त रीति से पढ़ाई पढ़कर 21 जन्मों की राजाई लेनी है।

2) और सबकी याद भुलाकर एक बाप को सत्य बाप, सत्य टीचर और सतगुरू के रूप से याद करना है।

वरदान:- बिन्दू रूप बाप की याद से हर सेकण्ड कमाई जमा करने वाले पदमापदमपति भव 
आप बच्चे एक-एक सेकण्ड में पदमों से भी ज्यादा कमाई जमा कर सकते हो। जैसे एक के आगे एक बिन्दी लगाओ तो 10 हो जाता, फिर एक बिन्दी लगाओ तो 100 हो जाता ऐसे एक सेकण्ड बिन्दू रूप बाप को याद करो, सेकण्ड बीता और बिन्दी लग गई, इतनी बड़ी कमाई जमा करने वाले आप बच्चे अभी पदमापदमपति बनते हो जो फिर अनेक जन्म तक खाते रहते हो। ऐसे कमाई करने वाले बच्चों पर बाप को भी नाज़ है।
स्लोगन:- बिगड़े हुए कार्य को, बिगड़े हुए संस्कारों को, बिगड़े हुए मूड को शुभ भावना से ठीक कर देना – यही श्रेष्ठ सेवा है।

Brahma Kumaris Murli April 2018 – Bk Murli Daily Hindi

Brahma kumaris murli today : Bk Daily Murli April 2018 

गूगल ड्राइव से हिंदी मुरली डाउनलोड कर सकते हैं।

01-04-2018 02-04-2018 03-04-2018 04-04-2018 05-04-2018
06-04-2018 07-04-2018 08-04-2018 09-04-2018 10-04-2018
11-04-2018 12-04-2018 13-04-2018 14-04-2018 15-04-2018
16-04-2018 17-04-2018 18-04-2018 19-04-2018 20-04-2018
21-04-2018 22-04-2018 23-04-2018 24-04-2018 25-04-2018
26-04-2018 27-04-2018 28-04-2018 29-04-2018 30-04-2018


मुरली ऑनलाइन पढ़ें
 :- यहां क्लिक करे

BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 29 MARCH 2018 – Aaj Ka Purusharth

To Read 28 March Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

*Om Shanti*
*29.03.2018*

★【 *आज का पुरुषार्थ*】★

बच्चे, धर्मराज कोई भी आत्मा वा परमात्मा नहीं है।

जिस तरह रावण पाँच विकारों के रूप को कहा जाता है, इसी तरह हर आत्मा के किये गये पाप कर्म धर्मराज का रूप ले लेते हैं। 
जिस कारण पाप कर्म करने वाली आत्मा सज़ाओं का अनुभव करती है।

बाप तो सभी बच्चों के लिए हमेशा कल्याणकारी रहता है – चाहे लौकिक हो … चाहे अलौकिक …।

स्वयं द्वारा किए गए पापकर्म सभी के आगे प्रत्यक्ष होंगे, पहले स्वयं के आगे फिर अन्य आत्माओं के सामने।

जिस कारण वह बाप के सहयोग का फायदा नहीं उठा पाते अर्थात् उनके पापकर्म ही उनको भगवान से साक्षी कर देते हैं।

और फिर जिस कारण उनकी भोगना और बढ़ जाती है।
और यह वह आत्मायें होती है जो बाप के प्यार के आधार को छोड़ दूसरे-दूसरे आधार पर चलती है।

स्व-परिवर्तन की बजाए अन्य आत्माओं का परिवर्तन करना चाहती है।

सुखकर्ता की बजाए दुःखकर्ता बन जाती है … अर्थात् dis-service के निमित्त बन जाती है…।

यही कर्म उनकी सज़ाओं के निमित्त बनते है और यह कार्य अब शुरू हो चुका है, अर्थात् जो आप कहते हो ना कि सद्गुरू का role शुरू हो जायेगा … वह हो चुका है…।

कोई भी कार्य पहले slow होता है फिर जल्द ही वह प्रत्यक्ष रूप में दिखने लगता है।

अष्ट रत्न … 100 रत्न … अर्थात् सभी माला के दाने स्वयं के पुरूषार्थ अनुसार स्वयं ही प्रत्यक्ष होते है जोकि सभी आत्माओं को मान्य होते है।

बाप का कार्य सभी आत्माओं को केवल प्यार, रहम, कल्याण की भावना से मुक्ति-जीवनमुक्ति देने का है।

सभी अपनी मन्सा-वाचा-कर्मणा द्वारा नम्बरवन और नम्बरवार बनते हैं।

अच्छा । ओम् शान्ति ।

【 *Peace Of Mind TV* 】
Tata Sky # 1065 | Dish TV # 1087 | Airtel # 678 | 
Videocon # 497 | 
Jio TV |

TODAY MURLI 30 MARCH 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 30 March 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 29 March 2018 :- Click Here

30/03/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet, beloved children, your spiritual pilgrimage is of remembrance. You mustn’t cause any difficulty for your body. While walking, moving around and sitting, continue to remember the Father with your intellect.
Question: Which children remain constantly happy? What is the reason for there not being constant happiness?
Answer: 1) Those who break their attachment away from the old world and old bodies and remember the Father and the inheritance experience happiness permanently. Happiness cannot remain permanently for those who experience storms of Maya in their remembrance and whose stage becomes slack. 2) While you are unable to see the future kingdom with your physical eyes, your happiness cannot remain permanently.
Song: We have to rise up again and follow the path if we fall.

Om shanti. The Father says this to the children. This is something to be understood. No one, other than Prajapita Brahma, can have so many children. Krishna can never be called Prajapita. The name ‘Prajapita Brahma’ has been remembered. The one who existed in the past is present at this time. There are many Brahma Kumars and Kumaris who are the children of Prajapita Brahma. They are the children of Prajapita Brahma. So, there must surely be the Father of Prajapita Brahma. You children know that your Grandfather is the Supreme Father, the Supreme Soul, Shiva. He is now creating a new world, that is, He is making the old world new. In this old world, even this body is old. In the new world, there would be new, satopradhan bodies. What are they like? Look at Lakshmi and Narayan. They have the new bodies of the new world. The people of Bharat know their praise. They are the masters of the new world of heaven, of the new world. The world that was new is now old. They had to take 84 births. There is the full account of that. Who takes the full 84 births? Not everyone will take them. Only those who have parts from the beginning to the end, and who came into this world first, take the full 84 births. You beloved children have to imbibe everything. Here, it is not a human being who is explaining to human beings. It is the incorporeal, Supreme Father, the Supreme Soul, who sits in a human body and explains to you. It is His greatness. If He hadn’t explained to us, we wouldn’t have known anything. We had completely degraded intellects. We now know the Creator and the beginning, the middle and the end of creation: who’s who! who the main actors are in this unlimited drama. This drama is eternally predestined. It is remembered: That which is destined is happening now. They sing this on the path of devotion. However, it is explained to you, how this play of the drama has been created. The Father sits here and explains: Beloved children, you now know that you have to go on a pilgrimage. People go on pilgrimages and endure many hardships. Aeroplanes and trains etc. have now made everything very easy. Earlier, people used to go on pilgrimages by foot. They would experience storms while moving along. People would become completely lost. Some would even turn back. So, physical pilgrimages continue for half the cycle, from the copper age onwards. Why do people on the path of devotion go on pilgrimages? Searching for God. God is not just sitting somewhere. The non-living images of God are worshipped. They make images of those who existed in the past. They cannot find God in the living form. Shivalingams etc. are non-living images. They go on pilgrimages to see non-living images. That is a system of the path of devotion. They do know that, but they don’t know thebiography of anyone – who they are or when they came. Shiva Jayanti is also celebrated, but they don’t know Him. Nowadays, they have lost all the importance of this festival because His name, form etc. had to disappear. You now know that the Highest on High is the Ocean of Knowledge, the Ocean of Happiness. We are now receiving knowledge from the Ocean. That unlimited Father now exists in a practical form. Shiv Baba is the Lord of Immortality. They show that an ice lingam forms naturally at Amarnath. They tell many tales in order to deceive people. There are so many difficulties on physical pilgrimages. This pilgrimage is spiritual and it has no difficulty for the body. You children understand that you are children of the unlimited Father. You have been remembering Him for birth after birth on the path of devotion. You have now remembered this. The Father says: While searching for Me, you came down 84 births. At first, people used to do very severe, intense devotion. Nevertheless, the world definitely had to become tamopradhan. The tree definitely continues to grow. Not a single human being can come back to Me. Everyone has to play their own parts in the play. Everyone has to go through the stages of sato, rajo and tamo. Take the example of the number one soul. The number one Lakshmi and Narayan were satopradhan and have now become tamopradhan. Shiv Baba has entered this one because he has to become number one again. Then the mother is placed in the plus position. Mothers have to be given a lift. Lakshmi is first and then Narayan. The name of the mothers is uplifted. Women are always faithful to their husbands. Men are not always faithful to their wives. It is said: Salutations to the mothers. At this time, you belong to the Father. Therefore, you are Brahma Kumars and Kumaris. There cannot be salvation for anyone without the mothers who are gurus. There are many gurus. In spite of that, there is extreme darkness in the iron age. There are so many gurus and saints! They have their temples etc. built at Haridwar. However, temples are in fact places where deities are shown. There aren’t temples to sannyasis. Only deity idols reside in temples because both their souls and bodies were pure. Although the souls of those mahatmas (great souls) are pure, they cannot receive pure bodies because matter is tamopradhan. You are now becoming deities. It is the Supreme Father, the Supreme Soul, who is making you that. This renunciation is satopradhan whereas their renunciation is rajopradhan. No one except the Father can teach this. Baba has explained to you: Those are physical pilgrimages whereas this pilgrimage is spiritual. You don’t need to do anything with your physical organs here. There is no question of physical difficulty. It is very easy. There are many types of physical pilgrimage, whereas there is just the one spiritual pilgrimage. This is the pilgrimage for a kingdom. The picture of Lakshmi and Narayan is just in front of you. The world doesn’t know that they claimed their status by going on the pilgrimage of Raja Yoga. You children know how they claimed their reward. They were not new souls that came from up above to whom God gave the kingdom. No; they were made new from old and this is called rejuvenation, that is, their bodies were made like the kalpa tree, so they became eternal (long lasting). The Father sits here and explains that they went on a spiritual pilgrimage. They became that with the power of Raja Yoga. The Father comes to teach you Raja Yoga and knowledge, and so your pilgrimage is continuing. Whether sitting or moving around, you are on pilgrimage. Simply continue to remember the Father with your intellects. You race in remembrance and your sins are absolved. The sooner your sins are absolved, the sooner you will become the garland around the Father’s neck. You no longer go on the pilgrimage of the four places. Those people on the path of devotion go on physical pilgrimages and then, when they return home, they indulge in sinful acts. For the duration of time that they are on the pilgrimage, they remain viceless. Just go to Haridwar nowadays and see; the guides living there are very dirty. When people go on pilgrimages, they remain pure whereas the guides who stay there remain impure. Your pilgrimage is very clean. You don’t have to stumble at all. Baba says: Beloved children, while walking, sitting and moving around, simply remember Me. He speaks to souls. The souls hear with these organs. A soul speaks with the mouth and sees with the eyes. Neither souls nor the Supreme Soul can be seen with these eyes; neither can be seen except in a divine vision. They can be realised and this is why it is said: There is a soul in me. My soul is unhappy. My soul sheds a body and takes another. It is the soul that speaks. The Supreme Soul also speaks to souls: O beloved children, souls, you now have to come to Me. I am teaching you a pilgrimage. Unless you become pure, you cannot come to Me. The soul is pure. At first souls are satopradhan and they then go through the stages of sato, rajo and tamo. Even bodies go through the stages of sato, rajo and tamo. Those who are satopradhan are said to be beautiful whereas those who are tamopradhan are said to be ugly. This is a matter of understanding. You souls know that you remained separated from the Supreme Soul for a long time. You have now met Him. Human beings meet human beings and souls meet souls. The Supreme Soul would also be found there. A sight of souls and the Supreme Soul can only be had in a divine vision because souls are extremely subtle; they are stars. No science expertscan tell you how a soul enters. They don’t know anything about these things at all. The Father is the most beloved. On the path of devotion, devotees have been remembering God for half the cycle. It isn’t that all are God. If all were God, why do devotees pray and perform worship? Everyone wants liberation and liberation-in-life because they are unhappy here. They want there to be peace. However, the poor people don’t know what the land of peace is or where there is liberation. They don’t know this. They say for the sake of saying it that someone went beyond, to the land of nirvana. No one knows anything. You children are now on a pilgrimage. The Father says: Children, move along with great caution. Many storms will come. You will try to remember Baba and Maya will break your intellect’s yoga. Your stage then becomes slack and the bead of mercury slips away. Otherwise, the mercury of happiness should remain stable. If you saw your kingdom with your physical eyes, your happiness would remain all the time. Here, you know with your intellect’s yoga that you are to receive a kingdom. We are studying for the kingdom. Because you don’t see it with your physical eyes, Maya repeatedly makes you forget. Baba says: While living at home with your family, live like a lotus. Continue to break your attachment away from the old world and old bodies. Remember the one Father. You first have to go to the Father and then to the new world. Remember the Father and the inheritance. Then, when we come down here, that will be our reward. We will not remember Him at that time. We are now making effort to receive the future reward. People make effort to earn something here for their livelihood, whereas we are making effort to earn our income for the future. While living at home with our families we have to take this course. Imbibe this knowledge and you won’t then have to make effort. There, you don’t make effort, you simply experience your reward. You know that you are creating your future; you will experience your reward there. There, you won’t remember that you are experiencing your reward. If you did, you would also remember the effort you made. There, you forget both the effort and the reward. You simply continue to experience your reward, but you are unaware of your past. You now know your past, present and future. No other human beings know the past, present and future. This is called knowing the three aspects of time. Baba has explained to you very clearly the contrast between this spiritual pilgrimage and a physical pilgrimage. People have been going on physical pilgrimages for birth after birth, whereas this spiritual pilgrimage is for just one birth. When you go to heaven, you will not then return to this land of death. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, who are spinners of the discus of self-realisation, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. With your satopradhan renunciation, make both the soul and body pure. Break your attachment away from the old world and the old body.
  2. Make effort while being trikaldarshi for by keeping the past, present and future in your intellect, imbibe knowledge and remain permanently happy.
Blessing: May you be a yogi soul and who gives the vision of the power of your mind with the mirror of your face.
Whatever is in your mind is definitely revealed by the sparkle on your forehead. Do not think that you have a lot of power in your mind: the power of your mind is reflected on your face. No matter how much you say that you have very good yoga and that you constantly dance in happiness, no one who sees your unhappy face would believe you. The sparkle of the happiness of having attained everything will be visible on your face. Let your face not be visible as a dry face, but let your face be filled with happiness and visible to everyone; you will then called be a yogi soul.
Slogan: When you have an easy nature, your words are simple and your actions filled with simplicity; you would then be able to glorify the Father’s name.

*** Om Shanti ***

BRAHMA KUMARIS MURLI 30 MARCH 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 30 March 2018

To Read Murli 29 March 2018 :- Click Here
30-03-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे लाडले बच्चे – तुम्हारी है रूहानी याद की यात्रा, तुम्हें शरीर को कोई तकलीफ नहीं देनी है, चलते-फिरते, उठते-बैठते बुद्धि से बाप को याद करो”
प्रश्नः- सदा खुशी किन बच्चों को रहती है? स्थाई खुशी न रहने का कारण क्या है?
उत्तर:- जो पुरानी दुनिया, पुराने शरीर से ममत्व तोड़ बाप और वर्से को याद करते हैं उन्हें ही स्थाई खुशी रहती है। जिनकी याद की यात्रा में माया के तूफान आते, अवस्था ठण्डी हो जाती उनकी खुशी स्थाई नहीं रहती। 2- जब तक भविष्य राजाई इन आंखों से नहीं देखते हैं, तब तक खुशी कायम नहीं रह सकती।
गीत:- हमें उन राहों पर चलना है…

ओम् शान्ति। यह बाप कहते हैं बच्चों प्रति, यह तो समझने की बात है। इतने बच्चे सिवाए प्रजापिता ब्रह्मा के और किसके होते नहीं। कृष्ण को कभी प्रजापिता नहीं कहा जाता। नाम गाया हुआ है ना प्रजापिता ब्रह्मा, जो होकर गये हैं वह इस समय प्रेजन्ट है। तो प्रजापिता ब्रह्मा की सन्तान ब्रह्माकुमार कुमारियां ढेर हैं। यह है प्रजापिता ब्रह्मा की औलाद। तो जरूर प्रजापिता ब्रह्मा का भी कोई बाप होगा ना। बच्चे जानते हैं हमारा दादा परमपिता परमात्मा शिव है। वह अब नई दुनिया रच रहे हैं अर्थात् पुरानी दुनिया को नई बना रहे हैं। इस पुरानी दुनिया में यह तन भी पुराने हैं। नई दुनिया में सतोप्रधान नये तन होते हैं। वह कैसे होते हैं, देखो, इन लक्ष्मी-नारायण को। यह है नई दुनिया के नये तन। इन्हों की महिमा भारतवासी जानते हैं। यह स्वर्ग नई दुनिया, नये विश्व के मालिक हैं। नई दुनिया जो थी वह अब पुरानी है। 84 जन्म लेने पड़ते हैं ना। इनका भी पूरा हिसाब है। कौन पूरे 84 जन्म लेते हैं? सब तो नहीं लेते। 84 जन्म सिर्फ वही लेते हैं जिनका आदि से अन्त तक पार्ट है। जो पहले इस सृष्टि पर थे। हर एक बात लाडले बच्चों को धारण करनी है। यहाँ कोई मनुष्य, मनुष्य को नहीं समझाते यह तो निराकार परमपिता परमात्मा मनुष्य तन में बैठ समझाते हैं। बलिहारी उनकी है। वह नहीं समझाते तो हम कुछ भी नहीं जानते। हम तो बिल्कुल तुच्छ बुद्धि थे। अभी रचयिता और रचना के आदि मध्य अन्त को जाना है। हू इज हू…इस बेहद ड्रामा में सबसे मुख्य पार्टधारी कौन-कौन हैं। यह अविनाशी बना बनाया ड्रामा है। गाते भी हैं बनी बनाई बन रही.. गायन भक्ति मार्ग में करते हैं। परन्तु यह अभी समझाया जाता है कि यह ड्रामा का खेल कैसे बना हुआ है।

बाप बैठ समझाते हैं लाडले बच्चे यह तो तुम जान गये हो कि तुमको यात्रा पर चलना है। मनुष्य यात्रा पर बहुत कष्ट सहन करके जाते हैं। अभी तो एरोप्लेन ट्रेन आदि बहुत सहज निकली हैं। आगे तो मनुष्य पैदल यात्रा पर जाते थे। चलते-चलते तूफान लगते थे। मनुष्य बेहाल हो जाते थे। फिर कोई वापिस लौट आते थे। तो आधाकल्प, द्वापर से लेकर जिस्मानी यात्रा चलती है। भक्ति मार्ग में मनुष्य यात्रा पर क्यों जाते हैं? भगवान को ढूढँने। भगवान कहीं बैठा तो नहीं है। भगवान के जड़ चित्र पूजे जाते हैं। जो होकर जाते हैं उनके जड़ चित्र बनाते हैं। चैतन्य में तो भगवान मिल न सके। शिवलिंग आदि यह सब जड़ चित्र हैं। जड़ चित्रों को देखने के लिए यात्रा करते हैं। यह एक भक्ति मार्ग की रसम है। जानते हैं परन्तु कोई की भी बायोग्राफी को नहीं जानते कि यह कौन हैं, कब आये थे? शिव जयन्ती मनाई जाती है, परन्तु उनको भी जानते नहीं। आजकल तो इस उत्सव को भी उड़ा दिया है क्योंकि इनका नाम रूप आदि प्राय:लोप होना ही है। अभी तुम जानते हो ऊंचे ते ऊंच ज्ञान का सागर, सुख का सागर है। सागर से अभी हमको ज्ञान मिल रहा है। वही बेहद का बाप अभी प्रैक्टिकल में है। अमरनाथ भी शिवबाबा है ना। दिखाते हैं बर्फ का लिंग बन जाता है। मनुष्यों को ठगने के लिए गपोड़े तो बहुत लगाये हैं। तो उस जिस्मानी यात्रा पर तकलीफ बहुत होती है। यह है रूहानी यात्रा, इसमें शरीर की कोई तकलीफ नहीं है। तुम बच्चे समझते हो हम बेहद के बाप के बच्चे हैं। भक्ति मार्ग में जन्म-जन्मान्तर याद करते आये हैं। अब स्मृति आई है। बाप कहते हैं तुम 63 जन्म ढूढँते-ढूँढते उतरते गये। पहले एकदम कड़ी नौधा भक्ति करते हैं। फिर भी दुनिया को तमोप्रधान तो जरूर होना है। झाड वृद्धि को पाता है जरूर। एक भी मनुष्य वापिस मेरे पास आ नहीं सकते। नाटक में सबको अपना पार्ट बजाना है। सतो रजो तमो में आना है। नम्बरवन का ही मिसाल लो। नम्बरवन लक्ष्मी-नारायण सतोप्रधान थे, अब तमोप्रधान हैं। जिसमें ही फिर शिवबाबा ने प्रवेश किया है क्योंकि इनको ही फिर नम्बरवन बनना है। फिर पलस में मॉ को रखते हैं। माताओं को लिफ्ट देनी होती है। पहले लक्ष्मी फिर नारायण, माताओं का नाम ऊंचा किया जाता है। माता सदैव पतिव्रता होती है। पुरुष कभी पत्नीव्रता नहीं होते हैं। वन्दे मातरम् कहा जाता है। इस समय तुम बाप के बने हो। तो तुम हो जाते हो ब्रह्माकुमार कुमारी। माता गुरू बिगर कभी किसका उद्धार होता नहीं। गुरू तो बहुत ढेर के ढेर हैं। फिर भी कलियुग घोर अन्धियारा हो गया है। कितने गुरू गोसाई हैं। कहाँ-कहाँ हरिद्वार आदि में उन्हों के मन्दिर बने हुए हैं। नहीं तो वास्तव में मन्दिर उनको कहा जाता है जिसमें देवतायें होते हैं। सन्यासी लोगों का कभी मन्दिर नहीं होता है। मन्दिरों में तो देवतायें ही रहते हैं क्योंकि उन्हों की आत्मा और शरीर दोनों पवित्र हैं। इन महात्माओं की भल आत्मा पवित्र है, परन्तु शरीर पवित्र मिल नहीं सकता क्योंकि तत्व भी तमोप्रधान हैं। अभी तुम देवता बन रहे हो। बनाने वाला है परमपिता परमात्मा। यह है सतोप्रधान सन्यास। वह है रजोप्रधान सन्यास। यह बाप के सिवाए कोई सिखला न सके। तो बाबा ने समझाया है कि वह है जिस्मानी यात्रा, यह है रूहानी यात्रा। इसमें कर्मेन्द्रियों का कोई काम नहीं, कुछ भी तकलीफ की बात नहीं है। बहुत सहज है। वह जिस्मानी यात्रा अनेक प्रकार की है। यह रूहानी यात्रा एक ही है। यह है राजाई के लिए यात्रा। यह लक्ष्मी-नारायण का चित्र सामने खड़ा है, दुनिया थोड़ेही जानती है कि इन्हों ने यह राजयोग की यात्रा कर यह पद पाया है। तुम बच्चे जानते हो इन्हों ने यह प्रालब्ध कैसे पाई। कोई ऊपर से नई आत्मायें तो नहीं आई, जिनको भगवान ने राजाई दे दी। नहीं। इन्हों को पुराने से नया बनाया हुआ है जिसको रिज्युवनेट वा काया कल्पतरू कहा जाता है। तो बाप बैठ समझाते हैं इन्होंने रूहानी यात्रा की थी। राजयोग बल की यात्रा से यह बने। बाप राजयोग और ज्ञान सिखाने आते हैं तो अब तुम्हारी यात्रा चल रही है। तुम बैठे हुए अथवा चलते फिरते उठते बैठते यात्रा पर हो। तुम सिर्फ बुद्धि से बाप को याद करते हो। याद से ही दौड़ी पहनते हो और तुम्हारे विकर्म विनाश होते हैं। जितना जल्दी विकर्म विनाश होंगे उतना जल्दी बाप के गले का हार बनेंगे। तुम अब वह 4 धाम आदि नहीं करते हो। वह सब भक्तिमार्ग के जिस्मानी तीर्थों पर जाए वहाँ से फिर लौट आकर घर में विकर्मी बनते हैं। जितना समय यात्रा पर रहते हैं, उतना समय निर्विकारी रहते हैं। आजकल तो हरिद्वार में जाकर देखो पण्डे लोग बड़े गन्दे रहते हैं। लोग यात्रा पर जाते हैं तो पवित्र रहते हैं और वहाँ के रहवासी पण्डे लोग अपवित्र रहते हैं। तुम्हारी यात्रा कितनी स्वच्छ है। कुछ भी धक्का आदि नहीं खाना है। बाबा कहते हैं लाडले बच्चे उठते बैठते चलते फिरते सिर्फ मुझे याद करो। यह आत्माओं से बात कर रहे हैं। आत्मा इन आरगन्स द्वारा सुनती है। आत्मा मुख से बोलती है, आंखों से देखती है। आत्मायें इन आंखों से दिखाई नहीं पड़ती, न परमात्मा दिखाई पड़ता। दोनों को दिव्य दृष्टि बिगर देखा नहीं जा सकता है। समझा जाता है तब कहते हैं हमारे में आत्मा है। हमारी आत्मा दु:खी है। हमारी आत्मा एक शरीर छोड़ दूसरा जाकर लेती है। आत्मा बोलती है ना। परमात्मा भी आत्मा से बात करते हैं – हे लाडले बच्चे, आत्मायें अब तुमको मेरे पास आना है। मैं तुमको यात्रा सिखलाता हूँ। तुम पवित्र बनने सिवाए मेरे पास आ नहीं सकते हो। आत्मा पवित्र है। पहले-पहले आत्मा सतोप्रधान है फिर सतो रजो तमो गुणी होती है। शरीर भी सतो रजो तमो होता है। सतोप्रधान को गोरा, तमोप्रधान को सांवरा कहा जाता है। कितनी समझ की बात है। तुम जानते हो आत्मा और परमात्मा अलग रहे बहुकाल….अब आकर फिर मिले हैं। मनुष्य, मनुष्य के साथ मिलेंगे। आत्मा, आत्माओं के साथ मिलेगी। परमात्मा भी वहाँ मिलेंगे। आत्मा और परमात्मा दोनों का साक्षात्कार दिव्य दृष्टि से होता है क्योंकि वह अति सूक्ष्म है, स्टार है। अब कोई भी साइन्स घमण्डी नहीं जो कह सके आत्मा की प्रवेशता कैसे होती है। इन बातों का उनको बिल्कुल पता नहीं है। मोस्ट बिलवेड बाप है। भक्ति मार्ग में आधाकल्प भक्त भगवान को याद करते हैं। ऐसे नहीं कि सब भगवान हैं। सब भगवान हों तो भक्त आराधना, वन्दना, साधना क्यों करते, किसलिए करते? सभी मुक्ति जीवनमुक्ति चाहते हैं क्योंकि यहाँ दु:खी हैं, चाहते हैं शान्ति हो। परन्तु बिचारों को यह पता नहीं है कि शान्तिधाम किसको कहा जाता है, मुक्ति कहाँ होती है। यह भी नहीं जानते। कहने मात्र सिर्फ कह देते हैं कि पार निर्वाण गया। जानते कोई भी नहीं हैं।

अब तुम बच्चे यात्रा पर हो। बाप कहते हैं बच्चे सम्भल-सम्भल कर चलना है। तूफान तो बहुत आयेंगे। तुम याद करने की कोशिश करेंगे, माया बुद्धियोग तोड़ देगी। फिर वह अवस्था ठण्डी हो जाती है। खुशी का पारा हट जाता है। नहीं तो खुशी का पारा स्थाई रहना चाहिए। इन आंखों से वह राजाई देखते हैं तो खुशी कायम रहती है। यहाँ तुम बुद्धियोग से जानते हो कि राजाई मिलती है। राजाई के लिए हम पढ़ रहे हैं। इन आंखों से नहीं देखते हो इसलिए माया घड़ी-घड़ी भुला देती है। बाबा कहते हैं गृहस्थ व्यवहार में रहते हुए कमल फूल समान रहो। पुरानी दुनिया, पुराने शरीर सबसे ममत्व तोड़ते जाओ। एक बाप को याद करो। पहले तुमको बाप के पास जाना है फिर नई दुनिया में आना है। बाप और वर्से को याद करो फिर जब हम यहाँ आयेंगे तो वह होगी प्रालब्ध। उसको याद नहीं करेंगे। अभी हम पुरुषार्थ करते हैं भविष्य प्रालब्ध पाने के लिए। यहाँ मनुष्य पुरुषार्थ करते हैं यहाँ की आजीविका के लिए। हम भविष्य की आजीविका के लिए पुरुषार्थ करते हैं। गृहस्थ व्यवहार में रहते फिर यह कोर्स भी उठाना है। नॉलेज को धारण करना है, फिर तुमको पुरुषार्थ नहीं करना होगा। वहाँ तुम पुरुषार्थ नहीं करते प्रालब्ध भोगते हो। तुम जानते हो हम भविष्य बनाते हैं वहाँ प्रालब्ध भोगेंगे। वहाँ याद नहीं रहती कि हम प्रालब्ध भोगते हैं। फिर तो पुरुषार्थ भी याद पड़े। पुरुषार्थ और प्रालब्ध दोनों ही भूल जाते हैं। प्रालब्ध भोगते रहते हैं, पास्ट का पता नहीं रहता। अभी तुम पास्ट, प्रेजन्ट, फ्युचर को जानते हो और कोई मनुष्य नहीं जो पास्ट, प्रेजन्ट फ्युचर को जानते हो। इसको कहा जाता है त्रिकालदर्शी।

बाबा ने रूहानी यात्रा और जिस्मानी यात्रा का कान्ट्रास्ट भी अच्छी रीति समझाया है। जिस्मानी यात्रा जन्म-जन्मान्तर करते आये, यह रूहानी यात्रा है एक जन्म की। स्वर्ग में जायेंगे फिर लौटकर इस मृत्युलोक में आना नहीं है। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे स्वदर्शन चक्रधारी बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) सतोप्रधान सन्यास से आत्मा और शरीर दोनों को पवित्र बनाना है। पुरानी दुनिया और पुराने शरीर से ममत्व तोड़ देना है।

2) त्रिकालदर्शी बन पास्ट, प्रेजन्ट, फ्युचर को बुद्धि में रख पुरुषार्थ करना है। नॉलेज को धारण कर स्थाई खुशी में रहना है।

वरदान:- अपने चेहरे रूपी दर्पण द्वारा मन की शक्तियों का साक्षात्कार कराने वाले योगी तू आत्मा भव 
जो मन में होता है उसकी झलक मस्तक पर जरूर आती है। ऐसे नहीं समझना कि मन में तो हमारे बहुत कुछ है। लेकिन मन की शक्ति का दर्पण चेहरा अर्थात् मुखड़ा है। कितना भी आप कहो हमारा योग तो बहुत अच्छा है, हम सदा खुशी में नाचते हैं लेकिन चेहरा उदास देख कोई नहीं मानेगा। “पा लिया” इस खुशी की चमक चेहरे से दिखाई दे। खुश्क चेहरा नहीं दिखाई दे, खुशी का चेहरा दिखाई दे, तब कहेंगे योगी तू आत्मा।
स्लोगन:- जब सरल स्वभाव, सरल बोल, सरलता सम्पन्न कर्म हों तब बाप का नाम बाला कर सकेंगे।
Font Resize