Month: February 2018

BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 28 FEBRUARY 2018 – Aaj Ka Purusharth

To Read 27 February Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

*Om Shanti*
*28.02.2018*

★【 *आज का पुरुषार्थ*】★

बच्चे, कभी आपने सागर को देखा है क्या…? उसमें इतना कुछ समाया होता है फिर भी वह बिल्कुल शान्त होता है।

इसी तरह आप बच्चों को भी इस दुनिया के बीच रहते हुए भी बिल्कुल शान्त रहना है अर्थात् कोई भी संकल्प नहीं और उस स्थिति में आप स्वयं को 100% अनुभव कर पाते हो।

इसलिए स्वयं को देखने का अभ्यास बढ़ाओ। जितना-जतना स्वयं को अनुभव करोगे उतना ही दुनिया से detach हो जाओगे, और इस दुनिया में रहते हुए भी आपको ऐसा लगेगा कि आप अपने घर (रूहानी) में हो और आपके चारों तरफ light ही light है।

यही स्थिति सबसे ऊँच स्थिति, बाप-समान स्थिति है।

सिर्फ केवल ब्रह्मा के संकल्प से ही नहीं बल्कि आप बाप-समान बच्चों के संकल्प से भी सृष्टि रची गई।

जब संकल्प से सृष्टि रची जा सकती है, तो फिर संकल्पों से क्या नहीं हो सकता…!

परन्तु तब, जब आप केवल स्वयं के अनुभवी स्वरूप होते हो। उस स्थिति में उत्पन्न संकल्प रचनात्मक और सिद्धि स्वरूप होते हैं।

इसलिए बच्चे स्वयं को बार-बार एकान्त में ले जाओ।

बच्चे, इस दुनिया में मन-बुद्धि लगा अभी तक आपने क्या प्राप्त किया है और आगे भी मान लो इस दुनिया के हिसाब से हद के सब सुविधा-साधन अर्थात् सुख के साधन मिल भी जाते हैं तो भी उससे क्या प्राप्ति है…, और कितने समय के लिए…?

जबकि यह अन्त का भी अन्त जा रहा है तो ऐसी श्रेष्ठ वेला पर आप बाप की श्रीमत प्रमाण, आप अपना ऊँचा भाग्य बना लो।

सभी तरफ से मन-बुद्धि निकाल स्वयं में लगा लो। स्वयं के अनुभव से ही बाप का अनुभव होगा और उस समय की प्राप्ति पूरे कल्प की सबसे ऊँच प्राप्ति होगी।

अच्छा। ओम शान्ति।

【 *Peace Of Mind TV* 】
Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 | Jio TV |

TODAY MURLI 1 MARCH 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 1 March 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 28 February 2018 :- Click Here

01/03/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, while you stay in remembrance, the iron-aged night will end. You will return with the Father and then go into the day. This is a wonderfulpilgrimage.
Question: Why do you children desire to go to heaven?
Answer: Because you know that when you go to heaven,all other souls will also benefit by being able to return home to the land of peace.You do not have greed for going to heavenbut are making a great deal of effort to establish heaven. So, you will surely become the masters of that heaven. However, you do not have any other desire. Human beings desire to have a vision of God, whereas God Himself is teaching you.
Song: O traveller of the night, do not be weary! The destination of the dawn is not far off!

Om shanti. You children understand the meaning of ‘travellers of the night’, numberwise, according to your efforts. If you children continue to spin the cycle of self-realization and stay in remembrance, you become able to understand that you have come very close to the day, that is, to heaven. It has been explained to you children that this is the unlimited day and night. It is called the unlimited night of Brahma. The name mentioned in the scriptures is very beautiful. It is not called the night of Lakshmi and Narayan. No, it is said, “The day of Brahma and the night of Brahma”. Lakshmi and Narayan ruled there in the golden age. The world cycle definitely has to turn. The kingdom of Lakshmi and Narayan will definitely come again in the golden age. After the golden age, the silver, copper and iron ages will definitely follow. So there will definitely be the same rulers again in the golden age. It is only Shiv Baba who gives you children this knowledge through Brahma. This is why only you have this knowledge of the world cycle; the deities do not have it. This cycle turns around in the intellects of you Brahmins. This is why the name, ‘The night of Brahma and the Brahma Kumars and Brahma Kumaris’ is used. You are now moving towards the day. The golden age is called the day and the iron age is called the night. You children know that your pilgrimage takes place at the confluence of the end of the iron age and the beginning of the golden age. You are sitting in the iron age but your intellects are there. The soul understands that he has to leave his body and return to the Father. You will leave your bodies at the end when you have reached your destination, that is, when the Father stops teaching you yoga. The Father will continue to teach you until you have completed your study. You children stay in remembrance of the Father. While you stay in such remembrance, the night will come to an end and you will return to the Father. You will then go into the day. This is your wonderful pilgrimage. The Father establishes the day for you Brahma Kumars and Kumaris. The day, that is, the golden age, is now about to come. Now that you are sitting in the night of the iron age you have to remember the Father continually. The Father has explained that everyone definitely has to die. People ask: When will we die? When will destruction take place? You have seen destruction in divine visions and you will definitely see it with your physical eyes. You will see with your physical eyes the establishment which you have had visions of. Mainly, it was Brahma, the one whose day and night has been praised, who had visions of destruction and creation. Therefore, whatever has been seen in divine visions will definitely happen in a practical way. The visions you had on the path of devotion were seen through divine vision too. You also see these with divine vision. You no longer desire anything. Sannyasis desire to see the Supreme Father, the Supreme Soul. Here, the Supreme Father, the Supreme Soul, sits and teaches you Himself. You have a desire to go to heaven. You children understand that when you are in heaven, everyone else will also benefit. You children now know that the unlimited Father, the Seed, who is the Creator of the human world knows the beginning, the middle and the end of the tree. We know that Father and His inheritance. With other trees, you can tell whether a tree is a mango tree. Firstly, the seed is sown, then two or four leaves emerge and then the tree begins to grow. That is a non-living seed. This Father, however, is the living Seed of the human world tree. He is called the Knowledge-full One. You children know that this is a school where you receive this knowledge. You are also studying yoga. By studying this you become princes and princesses in the future. Souls definitely have to become pure. Although all are now impure, if you were to tell them that they are impure, they would not believe it. They say that even in the land of Krishna people caused sorrow for one another, that Kans and Ravan etc. existed there. Only those who give happiness to one another can be called pure. No one causes sorrow for anyone in heaven. There, the lion and the lamb drink water together from the same pool; they do not hurt anyone. However, hardly anyone understands these things. Whatever scriptures they have studied, it is those things that remain in their intellects. Worshippers of the deities slap themselves. Hindus slapped themselves by defaming their deities. Christ and Buddha etc. are praised a great deal, whereas Hindus have defamed the deities. This is defamation of religion. In the Gita, it says: Whenever there is irreligiousness and unrighteousness I come. Even Bharat’s name is mentioned. It is Bharat that becomes corrupt and elevated. Lakshmi and Narayan were the most elevated. Degraded and corrupt human beings bow down to elevated ones. Although sannyasis remain pure, they do not know God. Instead, they call themselves God. All other gurus etc. are impure and also indulge in vice. Those who are vicious are called impure and they bow down to pure ones. They adopt sannyasis as their gurus in the hope of being made pure like them. Nowadays, hardly anyone becomes a sannyasi, and so what is the benefit of making a householder your guru, since he himself (the guru) is impure? However, there is some praise for the new souls that come. When people have a son, or receive money, they become happy. On seeing this happen, they all follow the same guru. In fact, people adopt a guru in order to receive salvation. Therefore, it should definitely be a person who has renounced the five vices and become pure who is needed for that. Otherwise, what benefit could someone attain by adopting a householder as his guru? However, there are big householder gurus who have thousands of followers. Once someone takes a guru, that guru’s throne continues. His followers wash his feet and drink the water; that is called blind faith. Although, people sing: “O God, You are the stick for the blind,” they do not understand the meaning of that. It is Maya, Ravan, who makes you senseless and blind. Everyone has become one with a stone intellect. This is why the Father says: I come and tell you the essence of all the scriptures. The example of Narad is given: he was told to look at his own face and see if he was worthy of marrying Lakshmi. Lakshmi will exist in heaven. You now understand that you are making effort to marry Lakshmi or Narayan in the future. That example belongs here. Although their faces are those of human beings, their characters are like those of monkeys. The Father says: Look at your own face! People tell you that you are greedy by wanting to become the masters of the world. You should explain to them: But we are making the whole world into heaven! Since we are making so much effort, surely we should become the masters of the world. After all, someone has to rule! Baba has explained that the first and biggest enemy is lust; it causes human beings sorrow from its beginning, through the middle to the end. That is your bitter enemy for half the cycle. Although there is happiness and sorrow in the drama, there is also someone who takes you into sorrow and that is Ravan. For half the cycle, there is the kingdom of Ravan. Only you children know these things, but you are numberwise. Just see: they say that Shankar and Parvati live on the Kailash mountain. Even the President etc. go to Amarnath on the Kailash mountain. However, they don’t even understand where Shankar and Parvati came from. Was it because Parvati was in degradation that the story of immortality was related to her? There is no question of degradation in the subtle region. People go stumbling so far on the path of devotion. Human beings have to experience sorrow and any attainment they receive is temporary. What type of attainment is that? They remain pure for as long as they are on a pilgrimage. Some cannot live without alcohol, and so they take a bottle of alcohol with them hidden away. How that could be called a pilgrimage? There is so much filth there, don’t even ask! Vicious human beings even indulge in vice there. Human beings don’t have knowledge and so they think that devotion is good, and that they will meet God by performing worship. For half the cycle you have to stumble around on the path of devotion. When the devotion of half the cycle ends, God comes. Baba feels mercy for you. It is not that you attain God by performing devotion. If that were so, why do they call out to God? Why do they remember Him? At that time they don’t understand that they can meet God. If someone has a vision of Krishna by performing worship, he thinks he has found God and become a resident of Paradise. They have a glimpse of Krishna and that’s it! It is as though they have gone to the land of Krishna. However, no one actually goes there. There is a great deal of blind faith on the path of devotion. You children have now understood all of this. The Father comes in an ordinary body; this is why He has to endure so many insults. Otherwise, if it were not this body, which body would He enter? He could not be insulted in Krishna’s body. It is not possible for Krishna to enter the impure world to purify it. They don’t even call Krishna the Purifier. Human beings don’t even understand who the Purifier is or how He comes. This is why people cannot trust anything. How He enters the body of Brahma is not mentioned in the scriptures. They say that the sun and moon dynasty religions are established through the mouth of Brahma. They then forget when and how that happens. Prajapita Brahma definitely has to be here at the confluence of the cycles; only then could the new world of Brahmins be created. Human beings are completely confused; you have to show them the path. The Father comes and does such great service. You understand that you have been continually becoming worse than monkeys because of the five vices. We were deities and just look what we have become! The Father comes and makes such ones elevated again. Therefore, how much should you love the Father? Is the Father telling you this, or is it Dada? Many children do not even know this. The Father says: Think! Is it possible for Me to be present in this chariot all the time? That is not possible. I come to do service. Baba heard the news that someone had asked: Is it possible for human beings to give anyone happiness? Is this in the hands of human beings? Then someone else replied: No, only God can give happiness to people; nothing is in the hands of human beings. Then a child said: “No, it is human beings who give happiness; it is human beings who do everything. Nothing is in the hands of God.” Oh! But you don’t give anything! Everything is in God’s hand. You should explain that everyone has to follow shrimat. No one can give happiness without the elevated instructions of the Supreme Father. You should not consider yourself to be great. We are making the whole world into heaven by following shrimat. Just look what huge mistakes children make! People say that it is in the hands of God, whereas Brahma Kumars and Brahma Kumaris say that it is in the hands of the human beings! In fact, it is in the hands of the Father. You cannot do anything without shrimat. People have totally become worth not a penny. The Father says: Ravan makes you human beings into those with stone intellects. I come and make you into those with divine intellects. All praise should go to the Father. We are following shrimat. No one except God can make human beings elevated. Achcha.

To the mouth-born creation of Brahma, the jewels of the Brahmin clan, the spinners of the discus of self-realisation, to the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Our hearts should have true love for the Father, the One who does so much service and who makes us into such elevated deities! Give happiness to everyone as the deities do.
  2. Constantly praise the one Father. Don’t consider yourself to be great.
Blessing: May you be a knowledgeable and yogi soul who attains the fruit of success by constantly performing elevated deeds.
The deeds of those who are knowledgeable and yogi soul are naturally yuktiyukt. Yuktiyukt means to perform constantly elevated deeds. No seed of a deed can be without its fruit. Those who are yuktiyukt are able to have any thought, speak any words or perform any deed whenever they want. Their thoughts would also be yuktiyukt. It would not be that they didn’t want to do something and yet it happened; that they didn’t want to think something and yet they thought about it. The sign of being a knower of all secrets and accurately linked in yoga is to be yuktiyukt.
Slogan: The treasure-stores of those who have big hearts are always full.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 1 MARCH 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 1 March 2018

To Read Murli 28 February 2018 :- Click Here
01-03-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

“मीठे बच्चे – याद में रहते-रहते यह कलियुगी रात पूरी हो जायेगी, तुम बाप के पास चले जायेंगे फिर आयेंगे दिन में, यह भी वन्डरफुल यात्रा है”
प्रश्नः- तुम बच्चों को स्वर्ग में जाने की इच्छा क्यों है?
उत्तर:- क्योंकि तुम जानते हो जब हम स्वर्ग में जायें तब बाकी सब आत्माओं का कल्याण हो, सब अपने शान्तिधाम घर में जा सकें। तुम्हें कोई स्वर्ग में जाने का लोभ नहीं है। लेकिन तुम स्वर्ग की स्थापना कर रहे हो, इतनी मेहनत करते हो तो जरूर उस स्वर्ग के मालिक भी बनेंगे। बाकी तुम्हें कोई दूसरी इच्छा नहीं है। मनुष्यों को तो इच्छा रहती है – हमें भगवान का साक्षात्कार हो लेकिन वह तो तुम्हें स्वयं पढ़ा रहे हैं।
गीत:- रात के राही….

ओम् शान्ति। रात के राही का अर्थ तो बच्चे नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार जानते होंगे। अगर बच्चों का स्वदर्शन चक्र फिरता रहता है, स्मृति में रहते हैं तो वह समझ सकेंगे कि बरोबर हम दिन अर्थात् स्वर्ग के कितना नजदीक पहुंचे हैं। बच्चों को समझाया है – यह बेहद का दिन और रात है। ब्रह्मा की बेहद की रात कहा जाता है। शास्त्रों में कितना अच्छा नाम लिखा हुआ है। ऐसे नहीं कहा जायेगा कि लक्ष्मी-नारायण की भी रात होगी। नहीं। ब्रह्मा का दिन, ब्रह्मा की रात कहा जाता है। लक्ष्मी-नारायण तो वहाँ राज्य करते थे। फिर जरूर सृष्टि चक्र को फिरना है। लक्ष्मी-नारायण का राज्य फिर सतयुग में आना है। सतयुग के बाद त्रेता, द्वापर, कलियुग जरूर आना है। तो जरूर सतयुग में फिर वही राजा होना चाहिए। यह ज्ञान सिर्फ शिवबाबा ही ब्रह्मा द्वारा तुम बच्चों को देते हैं, इसलिए तुमको ही यह सृष्टि चक्र का ज्ञान है। देवताओं को नहीं है। तुम ब्राह्मणों की बुद्धि में यह चक्र फिरता है इसलिए नाम रखा है ब्रह्मा और ब्रह्माकुमार कुमारियों की रात। अभी तुम चल रहे हो दिन तरफ। सतयुग को दिन, कलियुग को रात कहा जाता है। तुम बच्चे जानते हो हमारी यह यात्रा कलियुग के अन्त और सतयुग आदि के संगम पर ही होती है। तुम बैठे कलियुग में हो तुम्हारी बुद्धि वहाँ है। आत्मा को समझना है हमको यह शरीर छोड़कर बाप के पास जाना है। शरीर तो अन्त में छोड़ेंगे जब मंजिल पूरी होगी अर्थात् बाप योग सिखाना बन्द करेंगे। पढ़ाई का अन्त होगा तब तक बाप सिखाते, पढ़ाते रहते हैं। बच्चे बाप की याद में रहते हैं। ऐसे याद में रहते-रहते रात पूरी हो जायेगी और तुम बाप के पास चले जायेंगे। फिर तुम आयेंगे दिन में। यह है तुम्हारी वन्डरफुल यात्रा। बाप दिन स्थापन करते हैं तुम ब्रह्माकुमार कुमारियों के लिए। अब दिन अर्थात् सतयुग आ रहा है। अभी तुम कलियुग रात में बैठे हो। निरन्तर बाप को याद करते रहो।

बाप ने समझाया है सभी को मरना है जरूर। मनुष्य पूछते हैं कब मरना है? कब विनाश होगा? अब दिव्य दृष्टि से विनाश का साक्षात्कार किया हुआ है। फिर इन आंखों से देखना जरूर है और स्थापना, जिसका साक्षात्कार करते हैं वह भी इन आंखों से देखना है। मुख्य जिस ब्रह्मा का दिन और रात गाया हुआ है उनको ही स्थापना और विनाश का साक्षात्कार हुआ है। तो जो दिव्य दृष्टि से देखा है वह प्रैक्टिकल जरूर होगा। भक्ति मार्ग में जो कुछ साक्षात्कार होता है वह दिव्य दृष्टि से देखते हैं। तुम भी दिव्य दृष्टि से देखते हो। तुमको किसी चीज़ की इच्छा नहीं रहती है। सन्यासी लोगों को इच्छा रहती है – परमपिता परमात्मा को देखने की। यहाँ तुम बच्चों को तो परमपिता परमात्मा खुद बैठ पढ़ाते हैं। तुमको इच्छा है स्वर्ग में जाने की। बच्चे जानते हैं कि हम स्वर्ग में जायेंगे तो सभी का कल्याण हो जायेगा। अभी तुम बच्चे जानते हो बेहद का बाप जो मनुष्य सृष्टि का रचयिता, बीजरूप है वो झाड के आदि, मध्य, अन्त को जानते हैं। हम उस बाप को और उनके वर्से को जानते हैं। जैसे वह झाड होते हैं, जानते हैं यह आंब का झाड है। बीज बोने से पहले दो चार पत्ते निकलते हैं फिर झाड बड़ा होता जाता है तो वह है जड़ बीज। यह बाप है मनुष्य सृष्टि का चैतन्य बीजरूप, उसे ही नॉलेजफुल कहा जाता है।

बच्चे जानते हैं यह पाठशाला है, जिसमें यह विद्या (पढ़ाई) मिल रही है और तुम योग भी सीख रहे हो। इस विद्या से तुम भविष्य प्रिन्स-प्रिन्सेज बनते हो। आत्मा पवित्र जरूर चाहिए। अभी तो सब अपवित्र हैं। परन्तु कोई को पतित कहो तो मानेंगे नहीं। कहते हैं कृष्णपुरी में भी एक दो को दु:ख देने वाले कंस, रावण आदि थे। एक दो को सुख देने वाले को पावन कहा जाता है। स्वर्ग में कोई दु:ख देता नहीं। वहाँ तो शेर बकरी इक्ट्ठे जल पीते हैं। किसको दु:ख नहीं देते। परन्तु यह बातें कोई समझते थोड़ेही हैं। जो शास्त्र पढ़े हैं वही बातें बुद्धि में आ जाती हैं। देवताओं के पुजारी अपने को खुद ही चमाट मारते हैं। हिन्दुओं ने आपेही अपने को चमाट मारी है। अपने देवताओं की बैठ निंदा की है। क्राइस्ट, बुद्ध आदि की कितनी महिमा करते हैं। देवताओं की बैठ निंदा करते हैं। यह धर्म की ग्लानी हुई ना। गीता में भी कहते हैं यदा यदाहि धर्मस्य…..नाम भी भारत का है। भारत ही भ्रष्ट और श्रेष्ठ बनता है। श्रेष्ठ थे लक्ष्मी-नारायण। भ्रष्ट मनुष्य, श्रेष्ठ को माथा टेकते हैं। सन्यासी भी पवित्र रहते हैं, परन्तु भगवान को जानते नहीं। अपने को ही भगवान कह देते हैं। बाकी दूसरे जो भी गुरू आदि हैं पतित हैं, विकार में भी जाते हैं। पतित कहा जाता है विकारी को। वह पावन को नमस्कार करते हैं। सन्यासियों को गुरू करते हैं तो भी इसलिए कि हमको आप समान पावन बनायें। आजकल सन्यासी तो कोई मुश्किल बनते हैं, फिर गृहस्थी को गुरू करने से क्या प्राप्ति होगी? जबकि वे खुद ही पतित हैं। परन्तु नई आत्मायें आती हैं तो उन्हों की कुछ महिमा निकलती है। किसको पुत्र मिला, किसको धन मिला तो खुश हो जाते हैं। फिर एक दो को देख सब गुरू करते रहेंगे। वास्तव में गुरू किया जाता है सद्गति के लिए। वह जरूर 5 विकारों का सन्यास किया हुआ पवित्र चाहिए। बाकी गृहस्थी गुरू करने से क्या फायदा? बड़े-बड़े गृहस्थी गुरू हैं जिनके हजारों फालोअर्स हैं। कोई एक ने गुरू किया तो वह गद्दी चली आती है। शिष्य लोग उनके पांव धोकर पीते हैं, इसको अन्धश्रधा कहा जाता है। मनुष्य भल गाते हैं कि हे भगवान अंधों की लाठी तू.. परन्तु इसका अर्थ भी नहीं समझते। अन्धा (बुद्धिहीन) बनाती है माया रावण। सब पत्थरबुद्धि बन जाते हैं इसलिए बाप कहते हैं यह जो भी शास्त्र आदि हैं इन सबका सार मैं आकर सुनाता हूँ। नारद का मिसाल देते हैं, उनको कहा तुम अपनी शक्ल तो देखो – लक्ष्मी को वरने लायक हो? लक्ष्मी तो स्वर्ग में होगी। अभी तुम जानते हो हमें पुरुषार्थ कर भविष्य लक्ष्मी को वा नारायण को वरना है। तो यह भी यहाँ की बात है। शक्ल मनुष्य की है, सीरत बन्दर की है। बाप कहते हैं अपनी शक्ल तो देखो। मनुष्य तुमको कहेंगे तुम स्वर्ग का मालिक बनने का भी लोभ रखते हो ना। उनको समझाना है अरे हम तो सारी सृष्टि को स्वर्ग बनाते हैं। इतनी मेहनत करते हैं तो जरूर मालिक भी हमको बनना पड़ेगा ना। कोई तो राज्य करेंगे ना।

बाबा ने समझाया है नम्बरवन है काम महाशत्रु, जो मनुष्य को आदि, मध्य, अन्त दु:ख देता है। यह आधाकल्प का कड़ा दुश्मन है। भल ड्रामा में सुख और दु:ख है परन्तु दु:ख में ले जाने वाला भी तो है। वह है रावण। आधाकल्प रावणराज्य चलता है। यह बातें तुम बच्चे ही जानते हो। तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं। अब देखो कहते हैं कैलाश पर्वत पर शंकर पार्वती रहते हैं। प्रेजीडेंट आदि भी अमरनाथ, कैलाश पर्वत पर जाते हैं। परन्तु इतना भी समझते नहीं कि वहाँ शंकर पार्वती कहाँ से आये? क्या पार्वती दुर्गति में थी जो उनको बैठ कथा सुनाई? सूक्ष्मवतन में तो दुर्गति का प्रश्न ही नहीं। कितना दूर-दूर जाकर मनुष्य धक्के खाते हैं। यह है भक्ति मार्ग। दु:ख तो मनुष्यों को पाना ही है। प्राप्ति है अल्पकाल की। वह कौन सी प्राप्ति है? तीर्थों पर जितना समय रहते हैं उतना समय पवित्र रहते हैं। कोई तो शराब बिगर रह नहीं सकते, तो छिपाकर भी शराब की बोतल ले जाते हैं। फिर वह कोई तीर्थ थोड़ेही हुआ। वहाँ भी कितना गंद लगा पड़ा है, बात मत पूछो। विकारी मनुष्यों को विकार भी वहाँ मिलता है। मनुष्यों को ज्ञान नहीं है तो समझते हैं भक्ति अच्छी है, उनसे ही भगवान मिलेगा। आधाकल्प भक्ति के धक्के खाने पड़ते हैं। आधाकल्प के बाद जब भक्ति पूरी होती है तो फिर भगवान आते हैं। बाबा को तरस पड़ता है। ऐसे नहीं कि भक्ति से भगवान को पाते हैं। ऐसा होता तो फिर भगवान को पुकारते क्यों? याद क्यों करते? भगवान कब मिलता है, यह समझते नहीं हैं। भक्ति से कृष्ण का साक्षात्कार हुआ तो बस, समझते उनको भगवान मिल गया। वैकुण्ठवासी हुआ। कृष्ण का दर्शन हुआ बस चला गया कृष्णपुरी। परन्तु जाता कोई नहीं। तो भक्ति मार्ग में अन्धश्रधा बहुत है। तुम बच्चे अभी समझ गये हो। बाप साधारण तन में आते हैं तब तो गाली खाते हैं। नहीं तो भला किस तन में आये? कृष्ण के तन में तो गाली खा न सके। परन्तु कृष्ण पतित दुनिया में पावन बनाने आये, यह हो नहीं सकता। कृष्ण को पतित-पावन कहते भी नहीं हैं। मनुष्य यह भी समझते नहीं कि पतित-पावन कौन है, कैसे आते हैं इसलिए कोई को भी विश्वास नहीं बैठता है। शास्त्रों में तो है नहीं कि कैसे ब्रह्मा तन में आते हैं। कहते भी हैं ब्रह्मा मुख द्वारा सूर्यवंशी, चन्द्रवंशी धर्म की स्थापना होती है। फिर भूल जाते हैं कि कब होती, कैसे होती? प्रजापिता ब्रह्मा तो जरूर यहाँ कल्प के संगम पर होना चाहिए तब तो ब्राह्मणों की नई सृष्टि रची जाए। मनुष्य बहुत मूंझे हुए हैं, उनको रास्ता बताना है। बाप कितनी भारी सर्विस आकर करते हैं। तुम समझते हो हम 5 विकारों से एकदम बन्दर से भी बदतर होते गये हैं। हम सो देवता थे फिर एकदम क्या बन गये! ऐसों को फिर बाप कितना ऊंच आकर बनाते हैं। तो बाप को कितना लव करना चाहिए। यह बाप सुनाते हैं या दादा सुनाते हैं? यह भी कितने बच्चों को पता नहीं लगता। बाप कहते हैं विचार करो मैं सदैव रथ पर हाजिर रह सकता हूँ? यह तो हो नहीं सकता। मैं तो आता ही हूँ सर्विस पर।

बाबा के पास समाचार आया था – कोई ने पूछा क्या मनुष्य किसको सुख दे सकते हैं? यह मनुष्य के हाथ में है? तो एक ने कहा कि नहीं, ईश्वर ही है जो मनुष्य को सुख दे सकता है। मनुष्य के हाथ में कुछ भी नहीं है। तो कोई बच्चे ने फिर समझाया है कि मनुष्य ही सुख देता है, मनुष्य ही सब कुछ करता है। ईश्वर के हाथ में कुछ नहीं हैं। अरे, तुम थोड़ेही कुछ देते हो। ईश्वर के हाथ में ही तो है ना। समझाना चाहिए – श्रीमत पर चलना है। परमपिता की श्रीमत बिगर कोई सुख दे न सके। अपनी बड़ाई नहीं करनी चाहिए। हम श्रीमत पर सारे सृष्टि को स्वर्ग बनाते हैं। तो देखो कितनी भारी भूल बच्चों की होती है। वह कहते ईश्वर के हाथ में है। बी.के. कहते कि मनुष्य के हाथ में है। वास्तव में है तो बाप के ही हाथ में। श्रीमत बिगर कुछ कर नहीं सकते। मनुष्य बिल्कुल बर्थ नाट ए पेनी बन जाते हैं। बाप कहते हैं रावण मनुष्य को पत्थरबुद्धि बना देते हैं। मैं आकर तुमको पारस बुद्धि बनाता हूँ। महिमा सारी बाप की करनी है। हम श्रीमत पर चल रहे हैं। ईश्वर बिगर मनुष्य को कोई श्रेष्ठ बना नहीं सकता। अच्छा –

ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण कुल भूषण स्वदर्शन चक्रधारी मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप जो इतनी सर्विस करते हैं, हमें इतना ऊंच देवता बनाते हैं, ऐसे बाप से दिल का सच्चा लव रखना है। देवताओं समान सबको सुख देना है।

2) एक बाप की सदा महिमा करनी है। अपनी बड़ाई नहीं दिखानी है।

वरदान:- सदा यथार्थ श्रेष्ठ कर्म द्वारा सफलता का फल प्राप्त करने वाले ज्ञानी, योगी तू आत्मा भव 
जो ज्ञानी और योगी तू आत्मा हैं उनके हर कर्म स्वत: युक्तियुक्त होते हैं। युक्तियुक्त अर्थात् सदा यथार्थ श्रेष्ठ कर्म। कोई भी कर्म रूपी बीज फल के सिवाए नहीं होता। जो युक्तियुक्त होगा वह जिस समय जो संकल्प, वाणी या कर्म चाहे वह कर सकेगा। उनके संकल्प भी युक्तियुक्त होंगे। ऐसे नहीं यह करना नहीं चाहता था, हो गया। सोचना नहीं चाहिए था, सोच लिया। राज़युक्त, योगयुक्त की निशानी है ही युक्तियुक्त।
स्लोगन:- जिनकी दिल बड़ी है उनके भण्डारे सदा भरपूर रहते हैं।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 27 FEBRUARY 2018 – Aaj Ka Purusharth

To Read 26 February Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

*Om Shanti*
*27.02.2018*

★【 *आज का पुरुषार्थ*】★

बच्चे आप अपनी शान्ति की स्थिति में स्थित हो…? अर्थात् मैं एक शान्त स्वरूप आत्मा हूँ…, शान्ति मेरा स्वधर्म है…, शान्तिधाम की रहने वाली हूँ…, शान्ति के सागर की संतान हूँ…, इसके स्मृति स्वरूप बने हो क्या…?

हर second इस स्वरूप की स्मृति में रहो … फिर आपकी हर कर्मन्द्रियाँ भी शान्त और शीतल हो जायेगी।

इसके लिए मुख के मौन के साथ-साथ मन का मौन भी अति आवश्यक है।

और मन को मौन करने के लिए देह, देह का संसार और इससे सम्बन्धित बातों से detach होना पड़ेगा।

जितना-जितना आप अपने इस स्वरूप की स्मृति में रहोगे, उतना आप शक्तिशाली होते जाओगे।

यह शान्ति ही आपकी शक्ति बन जायेगी। जिससे आपको अपने हर कार्य में सहज ही सफलता मिलनी शुरू हो जायेगी।

क्योंकि शान्त स्वरूप की स्थिति में स्थित होकर किये गये हर संकल्प सफलता को प्राप्त होते हैं और साथ ही साथ शान्ति के गुण में सभी गुण भी समाये हुए है … इसलिए आपको हर पल अपने आपको check करना है कि मैं शान्ति की स्थिति में स्थित हूँ या हलचल में हूँ…?

यदि minor सा भी मन में हलचल है तो स्वयं को अपने शान्त स्वरूप में स्थित कर अपने बाप के संग जाकर बैठ जाओ। यह शान्ति की light-might की किरणें स्वयं भी feel करो और चारों तरफ भी फैलाओ।

यही किरणें स्वयं की सेवा और विश्व-सेवा का कार्य करेगी। बस, अपने ऊपर attention रखो।

मन का मौन अर्थात् केवल समर्थ संकल्प … कुछ भी बात आये, कोई भी परिस्थिति आये…, आप उसी समय अपने शुद्ध स्वरूप में स्थित हो जाओ। फिर परिस्थिति भी शान्त हो जाएगी और आपके आस-पास का वातावरण भी।

बस 100% attention दे दृढ़ता-पूर्वक अभ्यास को बढ़ाते चलो। यही अभ्यास आगे चलकर आपको और आपके सम्बन्ध-सम्पर्क में आने वाली आत्माओं को हर हलचल से बचा अपनी मंज़िल तक पहंँचा देगा।

अच्छा। ओम शान्ति।

【 *Peace Of Mind TV* 】
Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 | Jio TV |

TODAY MURLI 28 FEBRUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 28 February 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 27 February 2018 :- Click Here

28/02/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, constantly move along considering yourself to be a Raj Rishi and all your days will pass in happiness and you will be saved from being choked by Maya.
Question: What chance do you have now but will not have again later?
Answer: You now have a little time in which you can make effort and claim a high status by studying. You will not receive this chance again. This life is invaluable and this is why you should never have any thought of dying soon so that you can be liberated. Only those who are troubled by Maya or have some suffering of karma have such thoughts. You have to become a conqueror of Maya by having remembrance of the Father.
Song: Have patience o mind! Your days of happiness are about to come.

Om shanti. You children heard the song. Who said this and who heard it? The unlimited Father said it and the children at all the centres heard it. Look how the Father’s yoga of the intellect goes to all the children. At all the centres, all the children who are the decoration of the Brahmin clan, spinners of the discus of self-realisation and Raj Rishis, should have the awareness that they are Raj Rishis. You are making effort for the kingdom in which all your days will be spent in happiness. In the iron age, your days are not spent in happiness. You Raj Rishis should spend your days here in happiness. Only when you consider yourselves to be Raj Rishis and have unshakeable and immovable faith all the time is this possible. Otherwise, when you repeatedly forget, Maya makes you choke a great deal. You children know that you are studying Raj Yoga with the Father and claiming your inheritance of constant happiness, that is, you are changing from an ordinary man into Narayan. No one, apart from the Supreme Father, the Supreme Soul, can make you this. When you say, “the Supreme Father, the Supreme Soul,” your intellect doesn’t go to a corporeal or subtle being; you remember the incorporeal Father at that time. The Father gives you patience: Children, there are only a few more days. This iron age, hell, will change and become heaven. The establishment of heaven and the destruction of hell have been remembered. God Himself sits here and teaches you Raja Yoga. No human being, whether of hell or heaven, can teach you Raja Yoga. You children know that you mouth-born creation of Brahma, the decoration of the Brahmin clan, are spinners of the discus of self-realisation. We souls have the knowledge of the world cycle. Deities don’t know this. Why have they given the discus of self-realisation to Krishna and Vishnu? Because you Brahmins have not yet become perfect; you continue to fluctuate. The discus of self-realisation is a symbol of the final stage. Today, you spin the discus of self-realisation and tomorrow, you would be defeated by Maya and fall. Therefore, how could those ornaments be given to you? The discus of self-realisation has to be permanent, and this is why it is given to Vishnu. These are very deep matters. You can go and explain at the Vishnu temples or at the temples to anyone portrayed with the discus of self-realisation. They even give the discus of self-realisation to Krishna. They don’t show the discus of self-realisation in the combined picture of Radhe and Krishna. In fact, Krishna is not a spinner of the discus of self-realisation. The decoration of the Brahmin clan are the spinners of the discus of self-realisation. The Supreme Father, the Supreme Soul, makes them into spinners of the discus of self-realisation and seers of the three aspects of time. When they become deities, they cannot be called trinetri, trikaldarshi or trilokinath, because it is now that they are ascending the staircase to heaven. From the golden age onwards we will be coming down the ladder. This knowledge doesn’t exist there. If you were aware of this there you wouldn’t be able to rule the kingdom because you would be worried. The Father gives you children patience: Don’t be afraid. You have to conquer Maya. Storms of Maya will definitely come and there will be obstacles. The cure for this is to stay in yoga. Maya will break your yoga, but you have to make effort to stay in yoga. The lifespan of those who stay in yoga will increase. The longer your lifespan is, the more you will be able to have yoga with the Father and claim your inheritance from Him at the end. By having yoga, you improve your health. This is why the Father says: May you be yogi! Constantly remember Me alone! The more effort you make, the more the reward you will receive in heaven. The Father says: Children, stay in yoga so that your sins are absolved. There is very little time left. You mustn’t say that destruction should take place soon so that you can go to heaven, because this life is invaluable. It is not that you will shed your body now and then take a new body and be able to study. You would still be in your childhood stage and destruction would have begun. You wouldn’t even be able to reach your youth stage because everyone here, young and old, is to be destroyed. Only those who are troubled by Maya or who have some suffering of karma would say that they should die soon because they want to be liberated from all of that. However, you will not receive this chance again. This is why you should occupy yourself in making effort. When the time comes, then, even against their conscious wish, everyone will have to go back because the Father will take everyone back on the spiritual pilgrimage. It isn’t that He will only take one or two million souls back with Him, just as one to one and a half million souls go to the Kumbha mela. This is the mela of souls with the Supreme Soul. The Father Himself has become the Guide and has come to take you back. Countless souls will follow Him. However, it is not that everyone will go back soon. If annihilation were to take place, the land of Bharat would not remain. However, this Bharat is an imperishable land; many will still remain here. Then, in the golden age, there will be just the one established sun-dynasty kingdom. You have a little time in between establishment of the golden age and destruction of the iron age when a few people remain to make their new kingdom. However, there is just this little time for making effort. This is called the beneficial age. The other confluence ages cannot be called beneficial because you continue to come down at that time. You have now come from complete happiness to complete sorrow. No others have this knowledge in their intellects. Previously, we too didn’t know anything. We used to worship everyone with blind faith. Now we receive all kinds of shrimat. You are doing the business that is rarely done by other businessmen. It is like learning an art. This is the art of changing human beings into deities. You have to pay attention to this. The Father comes at amrit vela every day and teaches you, and so, at that time the children of all the centres are in front of Him. The Father says: I remember all of you children. Maya doesn’t cause Me any obstacles in this. You children repeatedly forget Me because Maya creates obstacles for you. Some children write to Baba: Baba, do not forget us children. However, I never forget you. I have to take everyone back home. I give you love and remembrance every day. I send treasures to you children. I continue to challenge all of you: Follow the Father’s shrimat and make effort to claim your unlimited inheritance. Don’t be careless or make excuses about this. Some say that they have karmic bondages. Those are your karmic bondages, so what can the Father do? The Father says: Stay in yoga and your karmic bondages will continue to be cut away and you won’t commit any sin. You will be liberated from sin for half the cycle. You also have to do service to claim a high status. Look how well Mama and Baba explain! Some children do very good service. When someone asks you what your aim and objective is, put this cardin his or her hand. From that, everyone will know what business you are engaged in. They will say: These are great businessmen. You have to feel each one’s pulse. The best thing to explain is the cycle. No matter what a person is like, when he sees the cycle he would understand that this truly is the iron age and that the golden age is now about to come. You can even explain to Christians that this is hell and that heaven is being established. Surely, H eavenly God, the Father, would do that. However, people’s intellects have become such that they don’t even consider themselves to have become residents of hell. They say that so-and-so has become a resident of heaven, and so they should understand that they are definitely in hell. It is now the iron age, so rebirth would also definitely be in the iron age. Where is heaven? Baba tells you to go and explain at the cremation grounds. However, children become tired very quickly. You should explain that it is now the iron age. If you want to take rebirth in heaven, then come and understand this. We are also making effort so that hell will no longer remain. Do you want to come to heaven? You won’t find poison there. You will have to renounce that here. How? Baba is showing you methods. In Nepal, on the day of Vijaya Ashtmi (Festival of the Goddesses), all, young and old, go hunting (conquering the animal instincts, the vices). You too have to explain to everyone. There definitely have to be the pictures of Shiva and Lakshmi and Narayan in every home. You have to explain to your servants, carpenters that death is just ahead. Remember the Father and you will receive your inheritance. The Father fulfils everyone’s desire for heaven. When you have yoga, the Father can even grant you visions. The Father is the Benefactor, and so you children also have to become as benevolent as He is. Only the poor benefit themselves. Hardly any wealthy ones do this. Well-known sannyasis will come at the end. Now, it is poor and ordinary ones who take knowledge. The Father too comes in an ordinary body, not in a poor person’s body. If he too were poor he wouldn’t be able to do anything. How could a poor person look after so many? Therefore, look at the tactic that has been created. It is only the ordinary ones who are able to surrender themselves and are also able to sustain so many. Together with this one, many others also surrendered themselves and became heirs. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. Engage yourself in the art that the Father has taught you of changing human beings into deities.
  2. Don’t make mistakes and don’t make excuses for not following shrimat. In order to be liberated from your karmic bondages stay in remembrance.
Blessing: May you be seated on your throne of tapasya and service and thereby claim the future throne of the fortune of the kingdom.
The children who are close on the throne of service will be close to the throne of the kingdom in the future. To the extent that you are co-operative in service here, you will accordingly be constant companions in the kingdom. Here, you have the seat of tapasya and service and there, you have the throne of the fortune of the kingdom. Just as you are BapDada’s companion in remembrance here, similarly, there, you will be a companion in every action from childhood to the time of ruling the kingdom. Those who are constantly close, constant companions, constantly co-operative, constantly doing tapasya and seated on the throne of tapasya are the ones who will be seated on the throne in the future.
Slogan: Spiritual roses are those who spread the fragrance of spirituality into the atmosphere with their spiritual attitude.

*** Om Shanti ***

Invaluable versions of Mateshwari – 27/ 0 1/57

Eternally created programme of God’s coming.

People have been singing the song, “O God of the Gita, come to fulfil the promise You made.” Now, the God of the Gita, Himself, has come to fulfil the promise He made in the previous cycle. He says: O children, when there is extreme defamation of religion in Bharat, it is then that I definitely come to fulfil the promise I made. However, My coming does not mean that I come in every age. There isn’t defamation of religion in all ages. Defamation of religion takes place in the iron age, and so you have to understand that God comes in the iron age. The iron age comes every cycle, and so you understand that I come every cycle. There are four ages and that is called the cycle. For half the cycle, in the golden and silver ages, they are satopradhan, so there is no need for God to come then. The third age is the copper age when other religions begin, and, at that time too, there isn’t extreme defamation of religion; this shows that God does not come in the three ages. Then the iron age remains, and there is extreme defamation of religion at the end of this age. God comes at this time and destroys the irreligiousness and establishes the religion of truth. If He had come in the copper age, then, after the copper age, it should now have been the golden age, so why is it the iron age? It would not be said that God came and established the darkest iron age. It cannot be like that and this is why God says: I am One and I only come once and destroy the irreligiousness, finish the iron age and establish the golden age. Therefore, My time of coming is the confluence age.

2) God creates fortune (kismet) and human beings themselves destroy their fortune (kismet).

We know who it is that creates the fortune of human souls and who it is that spoils their fortune. We would not say that it is God who creates fortune and destroys fortune. But it is definitely God who creates fortune and human beings themselves who destroy their fortune. How can this fortune be created and how has it fallen? All of this is explained. When people know themselves and become pure, then they create their fortune which was spoilt. Since we speak of the fortune that is spoilt, it proves that, at some point, our fortune was good, and that it has now become spoilt. Now, God Himself comes and puts right the fortune that was spoilt. Some may say that God is incorporeal, and so how could He create fortune? It is explained how incorporeal God puts right our spoilt fortune through the corporeal body of Brahma with imperishable knowledge. It is God’s duty to give this knowledge, but human beings cannot awaken the fortune of one another. It is the one God alone who awakens our fortune and this is why there is His temple as a permanent memorial. Achcha. Om shanti.

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 28 FEBRUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 28 February 2018

To Read Murli 27 February 2018 :- Click Here
28-02-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – सदा अपने को राजऋषि समझकर चलो तो तुम्हारे सब दिन सुख से बीतेंगे, माया के घुटके से बचे रहेंगे”
प्रश्नः- कौन सा चांस तुम्हें अभी है फिर नहीं मिलेगा?
उत्तर:- अभी थोड़ा समय है जिसमें पुरुषार्थ कर पढ़ाई से ऊंच पद पा सकते हो फिर यह चांस नहीं मिलेगा। यह जीवन बड़ा दुर्लभ है इसलिए कभी यह ख्याल नहीं आना चाहिए कि जल्दी मरें तो छूटें। यह ख्याल उन्हें आता जिन्हें माया तंग करती है या कर्मभोग है। तुम्हें तो बाप की याद से मायाजीत बनना है।
गीत:- धीरज धर मनुआ…

ओम् शान्ति। बच्चों ने गीत सुना। किसने कहा और किसने सुना? बेहद के बाप ने कहा और सभी सेन्टर्स के बच्चों ने सुना। देखो बाप का बुद्धियोग सभी बच्चों की तरफ जाता है। सभी सेन्टर्स के जो भी ब्राह्मण कुल भूषण वा स्वदर्शन चक्रधारी अथवा राजऋषि बच्चे हैं उन बच्चों को यह भी स्मृति में रहना चाहिए कि हम राजऋषि हैं। राजाई के लिए पुरुषार्थ कर रहे हैं, जिस राज्य में देखो तो सदैव सुख के दिन व्यतीत होते हैं। कलियुग में तो सुख के दिन बीतते ही नहीं। तुम जो राजऋषि हो तुम्हारे भी सुख के दिन यहाँ बीतने चाहिए। अगर बच्चे अपने को राजऋषि समझते हैं और निश्चय अटल, अडोल कायम है तो। नहीं तो घड़ी-घड़ी भूल जाने से माया के घुटके बहुत आते हैं। बच्चे जानते हैं कि हम बाप से राजयोग सीख सदा सुख का वर्सा ले रहे हैं अथवा नर से नारायण बन रहे हैं। सो तो सिवाए परमपिता परमात्मा के कोई बना न सके। परमपिता परमात्मा जब कहा जाता है तो किसी साकार वा आकार की तरफ बुद्धि नहीं जाती, निराकार बाप को ही याद करते हैं। बाप धीरज देते हैं – बच्चे बाकी थोड़े रोज़ हैं। यह कलियुग नर्क बदल स्वर्ग होगा। हेविन की स्थापना हेल का विनाश तो गाया हुआ है। भगवान स्वयं बैठ राजयोग सिखाते हैं। कोई भी मनुष्य चाहे हेल का, चाहे हेविन का हो, राजयोग सिखला न सके। बच्चे जानते हैं हम ब्रह्मा मुख वंशावली ब्राह्मण कुल भूषण ही स्वदर्शन चक्रधारी हैं। हम आत्माओं को सृष्टि चक्र की नॉलेज है। देवतायें यह नहीं जानते। स्वदर्शन चक्र कृष्ण को वा विष्णु को क्यों दिया है? क्योंकि तुम ब्राह्मण अभी सम्पूर्ण नहीं बने हो। नीचे ऊपर होते रहते हो। यह स्वदर्शन चक्र निशानी है फाइनल की। आज तुम स्वदर्शन चक्र फिराते हो, कल माया से हार खाकर गिर पड़ते हो तो तुमको अलंकार कैसे दे सकते? स्वदर्शन चक्र तो स्थाई चाहिए, इसलिए विष्णु को दिखाते हैं। यह बहुत गुह्य बातें हैं। जहाँ भी विष्णु का मन्दिर हो वा कोई भी स्वदर्शन चक्रधारी का मन्दिर हो वहाँ जाकर तुम समझा सकते हो। कृष्ण को भी स्वदर्शन चक्र देते हैं। राधे कृष्ण युगल के चित्र में स्वदर्शन चक्र नहीं देते हैं। वास्तव में कृष्ण स्वदर्शन चक्रधारी है नहीं। स्वदर्शन चक्रधारी तो ब्राह्मण कुल भूषण हैं, जिनको परमपिता परमात्मा स्वदर्शन चक्रधारी अथवा त्रिकालदर्शी बनाते हैं। वही जब देवता बनते हैं तो उन्हों को त्रिनेत्री, त्रिकालदर्शी, त्रिलोकीनाथ नहीं कह सकते क्योंकि अभी तो हम स्वर्ग की सीढ़ी ऊपर चढ़ते हैं। सतयुग से तो सीढ़ी नीचे उतरनी होती है। वहाँ यह ज्ञान होता नहीं। वहाँ यह मालूम होता तो तुम राजाई कर न सको, यही चिंता लग जाए।

तो अब बाप बच्चों को धीरज देते हैं कि घबराओ मत। माया पर जीत पानी है। माया के तूफान आयेंगे जरूर, विघ्न पड़ेंगे। इसका इलाज है योग में रहो। माया योग भी तोड़ेगी। परन्तु पुरुषार्थ कर योग में रहना है। जो योग में रहेंगे तो उनकी आयु भी बढ़ेगी। जितनी आयु बड़ी होगी उतना अन्त तक बाप से योग लगाए वर्सा लेंगे। योग से तन्दरुस्ती को भी ठीक करना है, इसलिए बाप कहते हैं योगी भव। मेरे को निरन्तर याद करो। जितना पुरुषार्थ करेंगे उतना स्वर्ग में प्रालब्ध पायेंगे। तो बाप कहते हैं बच्चे योग में रहो तो तुम्हारे विकर्म विनाश होंगे। बाकी थोड़ा समय है। तुम ऐसे नहीं कहेंगे कि विनाश जल्दी हो तो हम स्वर्ग में जाएं क्योंकि यह जीवन बड़ी दुर्लभ है। ऐसे नहीं कि अभी शरीर छोड़ फिर नया शरीर लेकर पढ़ाई पढ़ सकेंगे। बाल अवस्था में ही होगा तो विनाश आरम्भ हो जायेगा। बालिग भी नहीं बन सकेगा क्योंकि इसमें छोटे-बड़े सबका विनाश होने वाला है। जल्दी मरें, यह वही कहेंगे जिनको माया बहुत तंग करती है या कोई कर्मभोग है, उनसे छूटने चाहते हैं। परन्तु यह चांस फिर नहीं मिलेगा, इसलिए पुरुषार्थ में जुट जाओ। बाकी तो जब समय आयेगा तो न चाहते भी सबको जाना पड़ेगा क्योंकि बाप सबको रूहानी यात्रा पर ले जायेगा। ऐसे नहीं सिर्फ 10-20 लाख को ले जायेगा। जैसे कुम्भ के मेले पर 10-15 लाख जाते हैं। यह तो आत्मा परमात्मा का मेला है। बाप स्वयं पण्डा बनकर लेने आये हैं, इनके पिछाड़ी तो अनगिनत आत्मायें जायेंगी। परन्तु ऐसे भी नहीं सब जल्दी जायेंगे। प्रलय हो तो फिर यह भारतखण्ड ही न रहे। परन्तु यह भारत अविनाशी खण्ड है। यहाँ बहुत रह जाते हैं। फिर सतयुग में एक ही सूर्यवंशी राजधानी स्थापन होगी। कलियुग विनाश हो सतयुग स्थापन होने में बीच का थोड़ा सा यह टाइम मिलता है, इसमें थोड़े रह जाते हैं जो नयेसिर अपनी राजधानी बनाते हैं। बाकी पुरुषार्थ का यही थोड़ा समय है, इसको कल्याणकारी युग कहा जाता है। दूसरे संगम को कल्याणकारी नहीं कहेंगे क्योंकि नीचे उतरते जाते हैं। अब सम्पूर्ण सुख से सम्पूर्ण दु:ख में आ गये हैं। यह नॉलेज और किसकी बुद्धि में नहीं है। आगे हम भी कुछ नहीं जानते थे, अन्धश्रद्धा से सबकी पूजा करते थे। अब तो हर प्रकार की श्रीमत मिलती है। धन्धा भी वही करते हैं जो कोई बिरला व्यापारी करे। जैसे हुनर सीखना होता है। यह है मनुष्य को देवता बनाने का हुनर। इस पर ध्यान देना है।

बाप रोज़ अमृतवेले आकर पढ़ाते हैं तो उस समय बाप के सामने सब सेन्टर्स के बच्चे हैं। बाप कहते हैं मैं तुम सभी बच्चों को याद करता हूँ इसमें माया मुझे कोई विघ्न नहीं डालती है। तुम बच्चे मुझे घड़ी-घड़ी भूल जाते हो, माया तुमको विघ्न डालती है। कोई-कोई लिखते हैं बाबा हम बच्चों को न भुलाना। परन्तु मैं तो कभी नहीं भूलता। मुझे तो सबको वापिस ले जाना है। मैं रोज़ यादप्यार देता हूँ। बच्चों को खजाना भेज देता हूँ। सबको ललकार करता रहता हूँ कि बाप की श्रीमत पर बेहद का वर्सा लेने का पुरुषार्थ करो। इसमें ग़फलत वा बहाना मत करो। कहते हैं कर्मबन्धन है। यह तो तुम्हारा है, बाप क्या करे। बाप कहते हैं योग में रहो तो कर्मबन्धन कटता जायेगा। तुमसे विकर्म नहीं होंगे। आधाकल्प तुम विकर्मों से छूट जायेंगे। फिर ऊंच पद पाने के लिए सर्विस भी करनी है। मम्मा बाबा कैसे अच्छी रीति समझाते हैं। कोई-कोई बच्चे भी अच्छी सर्विस करते हैं। तुमसे कोई पूछे तुम्हारी एम आब्जेक्ट क्या है, तो यह कार्ड हाथ में दे दो। उससे सब समझ जायेंगे कि यह किस धन्धे में लगे हुए हैं। यह तो बड़े व्यापारी हैं। हर एक की रग देखनी है। सबसे अच्छा है चक्र पर समझाना। कैसा भी आदमी हो, चक्र को देख समझ जायेंगे कि बरोबर यह कलियुग है अब सतयुग आने वाला है। क्रिश्चियन को भी समझा सकते हो यह हेल है, अब हेविन स्थापन होने वाला है। वह तो जरूर हेविनली गॉड फादर ही करेगा। परन्तु मनुष्यों की बुद्धि ऐसी हो गई है जो अपने को नर्कवासी भी नहीं समझते हैं। कहते भी हैं फलाना स्वर्गवासी हुआ तो समझना चाहिए जरूर हम नर्क में हैं। अभी कलियुग है, पुनर्जन्म भी जरूर कलियुग में ही लेंगे। स्वर्ग है कहाँ? बाबा तो कहते हैं शमशान में जाकर समझाओ। परन्तु बच्चे झट थक जाते हैं। समझाना चाहिए अभी तो कलियुग है। अगर स्वर्ग में पुनर्जन्म लेने चाहते हो तो आकर समझो। हम भी पुरुषार्थ कर रहे हैं, जो फिर नर्क रहेगा ही नहीं। स्वर्ग में चलना है? वहाँ विष नहीं मिलेगा। उसको यहाँ ही छोड़ना पड़ेगा। कैसे? यह बाबा युक्तियां बताते हैं।

नेपाल में विजय अष्टमी के दिन छोटे बड़े सब शिकार करते हैं। तुमको भी सबको समझाना है, घर-घर में शिव का और लक्ष्मी-नारायण का चित्र जरूर रखना है। नौकरों को मिस्त्रियों को भी समझाना है कि मौत सामने खड़ा है। बाप को याद करो तो वर्सा मिल जायेगा। बाप सभी की मनोकामना स्वर्ग के लिए पूरी करते हैं। योग लगाने से बाप साक्षात्कार भी करा सकते हैं। बाप है ही कल्याणकारी तो बच्चों को भी ऐसा कल्याणकारी बनना है। गरीब ही अपना कल्याण करते हैं। साहूकार मुश्किल ही करते हैं। सन्यासी भी जो नामीग्रामी हैं वह अन्त में आयेंगे। अब बहुत करके गरीब साधारण ही ज्ञान लेते हैं। बाप भी साधारण तन में आता है, गरीब में नहीं। अगर यह भी गरीब होता तो कुछ कर नहीं सकता। गरीब इतनों की सम्भाल कैसे करते! तो युक्ति देखो कैसी रखी है। साधारण ही हो जो बलि भी चढ़े और इतने सबकी परवरिश भी होती रहे। इनके साथ-साथ और भी बहुत बलि चढ़ कर वारिस बन गये। अच्छा!

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप ने जो मनुष्य को देवता बनाने का हुनर सिखाया है, उसमें ही लगना है।

2) श्रीमत पर चलने में गफलत वा बहाना नहीं करना है। कर्मबन्धनों से छूटने के लिए याद में रहना है।

वरदान:- तपस्या और सेवा द्वारा भविष्य राज्य-भाग्य का सिंहासन लेने वाले सिंहासनधारी भव 
जो बच्चे यहाँ सेवा की सीट पर नजदीक हैं वह भविष्य में राज्य सिंहासन के भी नजदीक हैं। जितना यहाँ सेवा के सहयोगी उतना वहाँ राज्य के सदा साथी। यहाँ तपस्या और सेवा का आसन और वहाँ राज्य भाग्य का सिंहासन। जैसे यहाँ हर कर्म में बापदादा की याद में साथी हैं वैसे वहाँ हर कर्म में बचपन से लेकर राज्य करने के हर कर्म में साथी हैं। जो सदा समीप, सदा साथी, सदा सहयोगी, सदा तपस्या और सेवा के आसन पर रहते हैं वही भविष्य में सिंहासनधारी बनते हैं।
स्लोगन:- रूहे गुलाब वह है जो अपनी रूहानी वृत्ति से वायुमण्डल में रूहानियत की खुशबू फैलाता रहे।

मातेश्वरी जी के अनमोल महावाक्य 27-1-57

1) ‘भगवान के आने का अनादि रचा हुआ प्रोग्राम”

यह जो मनुष्य गीत गाते हैं ओ गीता के भगवान अपना वचन निभाने आ जाओ। अब वो स्वयं गीता का भगवान अपना कल्प पहले वाला वचन पालन करने के लिये आया है और कहते हैं हे बच्चे, जब भारत पर अति धर्म ग्लानि होती है तब मैं इसी समय अपना अन्जाम पालन करने (वायदा निभाने) के लिये अवश्य आता हूँ, अब मेरे आने का यह मतलब नहीं कि मैं कोई युगे युगे आता हूँ। सभी युगों में तो कोई धर्म ग्लानि नहीं होती, धर्म ग्लानि होती ही है कलियुग में, तो मानो परमात्मा कलियुग के समय आता है। और कलियुग फिर कल्प कल्प आता है तो मानो मैं कल्प कल्प आता हूँ। कल्प में फिर चार युग हैं, इसको ही कल्प कहते हैं। आधाकल्प सतयुग त्रेता में सतोगुण सतोप्रधान है, वहाँ परमात्मा के आने की कोई जरूरत नहीं। और फिर तीसरा द्वापर युग से तो फिर दूसरे धर्मों की शुरूआत है, उस समय भी अति धर्म ग्लानि नहीं है इससे सिद्ध है कि परमात्मा तीनों युगों में तो आता ही नहीं है, बाकी रहा कलियुग, उसके अन्त में अति धर्म ग्लानि होती है। उसी समय परमात्मा आए अधर्म विनाश कर सत् धर्म की स्थापना करता है। अगर द्वापर में आया हुआ होता तो फिर द्वापर के बाद तो अब सतयुग होना चाहिए फिर कलियुग क्यों? ऐसे तो नहीं कहेंगे परमात्मा ने घोर कलियुग की स्थापना की, अब यह तो बात नहीं हो सकती इसलिए परमात्मा कहता है मैं एक हूँ और एक ही बार आए अधर्म का विनाश कर कलियुग का विनाश कर सतयुग की स्थापना करता हूँ तो मेरे आने का समय संगमयुग है।

2) ‘किस्मत बनाने वाला परमात्मा किस्मत बिगाड़ने वाला खुद मनुष्य है”

अब यह तो हम जानते हैं कि मनुष्य आत्मा की किस्मत बनाने वाला कौन है? और किस्मत बिगाड़ने वाला कौन है? हम ऐसे नहीं कहेंगे कि किस्मत बनाने वाला, बिगाड़ने वाला वही परमात्मा है। बाकी यह जरूर है कि किस्मत को बनाने वाला परमात्मा है और किस्मत को बिगाड़ने वाला खुद मनुष्य है। अब यह किस्मत बने कैसे? और फिर गिरे कैसे? इस पर समझाया जाता है। मनुष्य जब अपने को जानते हैं और पवित्र बनते हैं तो फिर से वो बिगड़ी हुई तकदीर को बना लेते हैं। अब जब हम बिगड़ी हुई तकदीर कहते हैं तो इससे साबित है कोई समय अपनी तकदीर बनी हुई थी, जो फिर बिगड़ गई है। अब वही फिर बिगड़ी तकदीर को परमात्मा खुद आकर बनाते हैं। अब कोई कहे परमात्मा खुद तो निराकार है वो तकदीर को कैसे बनायेगा? इस पर समझाया जाता है, निराकार परमात्मा कैसे अपने साकार ब्रह्मा तन द्वारा, अविनाशी नॉलेज द्वारा हमारी बिगड़ी हुई तकदीर को बनाते हैं। अब यह नॉलेज देना परमात्मा का काम है, बाकी मनुष्य आत्मायें एक दो की तकदीर को नहीं जगा सकती हैं। तकदीर को जगाने वाला एक ही परमात्मा है तभी तो उन्हों का यादगार मन्दिर कायम है। अच्छा। ओम् शान्ति।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 26 FEBRUARY 2018 – Aaj Ka Purusharth

To Read 25 February Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

*Om Shanti*
*26.02.2018*

★【 *आज का पुरुषार्थ*】★

बच्चे, स्वयं के part से, अन्य आत्माओं के part से और पाँच तत्वों के बने इस संसार से साक्षी हो इस खेल को देखो। फिर आपकी स्थिति अचल-अडोल हो जायेगी।

बार-बार स्वयं को इस देह से न्यारा समझ बाप के संग बैठ जाओ। किसी भी बात में मूंझों मत … क्योंकि यह जो बिल्कुल अन्तिम समय जा रहा है वह हलचल से भरपूर है, क्योंकि हर चीज़ अति में जा रही है, विदाई लेने के लिए, इसलिए अपने कमज़ोर संस्कारों से भी 100% साक्षी हो जाओ और अपनी यात्रा में तत्पर रहो…।

मन को बार-बार पकड़कर बाप के पास ले जाओ, यही अभ्यास आपको बाप-समान बना देगा।

बच्चे, इस यात्रा में ना तो अलबेला बनना है, ना ही थकना है और ना ही बोर होना है – यह तीनों ही कमज़ोरी आपको बाप से detach कर देती है। इससे माया को chance मिल जाता है इसलिए बहुत careful होकर पुरूषार्थ करना है।

हमेशा उमंग-उत्साह में रहो … अपने लक्ष्य और अपनी प्राप्तियों के स्मृति स्वरूप रहो।

देखो लौकिक और अलौकिक परिवार भगवान को, बाप को पाने की, मिलने की इच्छा में लगे हुए है … परन्तु भगवान बाप बन आप प्यारे-प्यारे, मीठे-मीठे बच्चों के पास आ गया।

इतने बड़े अपने भाग्य को भूलो मत, लक्ष्य को भी याद रखो क्योंकि अब तो संगमयुग का हीरे तुल्य समय भी आया की आया इसलिए पूरे उमंग-उत्साह में रहना।

बाप आप बच्चों के संग है, और है भी क्या, अपने original स्वरूप को, बाप को और अपने कर्तव्य को स्मृति में रखने का पुरूषार्थ ही तो करना है…!

बस यही पुरूषार्थ आप बच्चों को बाप-समान बना देगा और यही आपकी कल्प-कल्प की बाज़ी बन जायेगी।

खुशी में रहते हो तो हल्के रहते हो और ज्यादा सोचने से, क्या-क्यों के question करने से आप भारी हो जाते हो जिससे मंज़िल दूर दिखने लग जाती है, इसलिए स्वयं को खुश रखो … उमंग-उत्साह में रहो, हल्के रहो फिर मंज़िल पर भी पहुँचे की पहुँचें।

अच्छा। ओम शांति।

【 *Peace Of Mind TV* 】
Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 | Jio TV |

TODAY MURLI 27 FEBRUARY 2018 DAILY MURLI (English)

Today Murli Brahma kumaris : 27 February 2018

Read Murli in Hindi :- Click Here

Read Murli 26 February 2018 :- Click Here

27/02/18
Morning Murli
Om Shanti
BapDada
Madhuban
Essence: Sweet children, the Father gives you knowledge of the limited and the unlimited and then takes you beyond that to your home. The golden and silver ages are the limited and the copper and iron ages are the unlimited.
Question: Who can remain firm in the knowledge you have received from the Father?
Answer: Those who remain completely pure. If you don’t remain pure you’re unable to imbibe knowledge. All the k nowledge can only be imbibed by a pure, golden-aged intellect. Only such children are able to become master knowledge-full, the same as the Father.
Question: By making effort, what stage will you children reach?
Answer: All the wrong thoughts that you have been having will end. Your intellects’ yoga will be connected to the one Father. Your intellects will become golden vessels and you will continue to imbibe all the jewels that the Father gives.

Om shanti. The spiritual Father sits here and explains to you sweetest spiritual children every day. It has been explained to you children that this world cycle is made of knowledge, devotion and disinterest. You have to go beyond the limited and the unlimited. It is said: Beyond the limited and the unlimited. Therefore, keep the knowledge of having to go beyond the limited and the unlimited in your intellect. It is also said of the Father: Beyond the limited and the unlimited. The meaning of this too has to be understood. The spiritual Father explains to you spiritual children the topic: There is knowledge, devotion and then disinterest. You know that knowledge is the day, when it is the new world; there is no devotion there. That is a limited world because there are very few human beings there. Then, gradually, growth takes place. Devotion begins after half the cycle. When there is knowledge, that is, when it is the day, there is no sannyas religion; there is no disinterest. There is no sannyas or renunciation there. All of these things should remain in your intellects. The world continues to expand gradually. The number of living beings also grows. Souls continue to come from the supreme abode. It begins with the limited and it is now unlimited. So, the Father is beyond the limited and the unlimited. There are very few children in the limited and then the world continues to expand. You now have to go beyond even this. This is called the unlimited. At first, there were limited souls: they played their part s in the golden and silver ages. There is a vast difference between the 900,000 and the billions of human beings who just go into the unlimited. People try to find out how high the sky is and how deep the ocean is, but they cannot reach the end of those. They try so hard to go up above. They have to have sufficient fuel so that they can also come back. They cannot go into the unlimited; they only remain within the limited. The Father explains to you the secrets of going beyond the limited and the unlimited. At first, in the new world, it is limited. There are very few at that time. You should have the knowledge of the beginning, the middle and the end of creation. No one has this knowledge. They don’t even know the Father. It is only the Father, who is beyond the limited and the unlimited, who explains all of these secrets to you. Therefore, the Father sits here and tells you the secrets of the beginning, the middle and the end of creation. The Father says: Children, go beyond even this. There, there is nothing. Here, there is just the sky and water everywhere. Where there is no land, that is called beyond the limited and the unlimited. No one can reach the end of that. They say “infinite, infinite”, but no one knows the meaning of that. Only the Father gives you the full understanding because He is elevated, that is, He is very sensible. It is only by understanding all of these things that you have become very sensible beads of the rosary. No human being can understand the secrets of the Creator or the beginning, the middle and the end of creation. Only the Father explains this. He says: I am seeing the limited and I go into the unlimited. There are so many religions; this is how establishment takes place. The golden age is the world of the limited and the iron age is the world of the unlimited. Then, beyond the limited and the unlimited is our land of peace, our sweet home. The golden age is also a sweet home ; there is peace and also the fortune of the kingdom there. There, there are both happiness and peace. When you go home, there is just peace there; there is no mention of happiness there. You are now establishing both peace and happiness. There is no mention of peacelessness there. There is peacelessness because of the five vices. No one in the world knows this. After half the cycle, there is the kingdom of Ravan. Those people say that the duration of a cycle is hundreds of thousands of years. They don’t understand anything, and this is why they are degraded, unhappy and impure. They don’t have any manners at all. They used to have divine manners, but they now have no manners and have devilish traits instead. This is the unlimited drama. It is said that you are now going beyond the limited and the unlimited, very, very far away. People don’t know anything about the play or who the greatest of all is. God is the Highest on High. This is why it is said: Only You know Your ways and means. You children now understand everything. However, you are also numberwise. The Father sits here and explains how far His intellect goes. It goes beyond the limited and the unlimited; there is nothing there. That is the residence of you children, Brahmand, the great element of brahm. You are sitting here in the element of sky and you cannot see anything of it. There is nothing but space. They say that the radio is sound from the ether (sky). The sky is a big element and no one can reach its end. What would people understand about the sound from the sky? Sound comes from the mouth (space in the mouth). This is called sound from the ether. Sound comes from the mouth. Sound doesn’t come from the nose or ears. The Father sits in this body and explains to you children through the mouth. Only you children know what the Father is. Just as we are souls, so Baba is the highest-on-high soul. Everyone has received a numberwise part. The Father is the Highest on High and then, as you come down, all enter the play, numberwise. In the new world, there are first of all, Lakshmi and Narayan and then there are those who are with them in the new world. Look at the rosary: at the top is the tassel (flower), God, the Highest on High, and then there is the dual-bead. Then see how the rosary grows. All of this is the study. You have the whole study in your intellects: the Seed and the tree. The Seed is up above. The Father, the Creator, has sat and explained to you the secrets of the beginning, the middle and the end of creation. This is the kalpa tree of the world. Its age is accurate. There can be no difference of even a second in it. You have received so much knowledge. Only those who become pure are able to remain strong in this. Otherwise, they are unable to imbibe knowledge. If you have a pure vessel, a golden-aged intellect, you will be able to imbibe knowledge easily, just as Baba has. You will become master knowledge-full, numberwise. No one, apart from the Father, can explain this secret. You will neither be able to hear it from the mouths of deities, nor from impure human beings. Only the Father speaks it to you, and that, too, only now at the confluence age. Only once does the Father become the Father, Teacher and Satguru. He is playing His part now, and He will then play His part again after 5000 years. Annihilation doesn’t take place. So, first is the Father, the Highest on High, Shiva, and then the highest-on-high dual-bead, the emperor and empress, who will then become Adi Dev and Adi Devi at the end. You have all the knowledge in your intellects, but it is numberwise according to the effort you make. Anyone you relate this knowledge to will be amazed. No one, apart from the knowledge-full Father, can give this knowledge. It is very easy for you children to imbibe this. It isn’t difficult, but the main thing is the pilgrimage of remembrance. The jewels will be able to stay in a golden vessel. These are the highest-on-high jewels. Baba was a jeweller of jewels too. When he acquired very beautiful jewels, he would place them on cotton wool in a silver box. Then he would open the box and show them as something first class. Good things only look nice in good containers. Those ears of yours are vessels and you listen through them. Because you are imbibing this, they have to be golden (pure), that is, your intellects have to be completely connected in yoga to the Father. If your intellect’s yoga isn’t right, nothing will be retained by your intellect. You mustn’t even have wrong thoughts. All storms have to stop. By making effort, you will reach this stage. By removing your intellects from everywhere else and continuously connecting them to Me, your vessels will become golden. Continue to donate to others. Bharat is a great donor. People donate a lot of wealth etc. in Bharat. These donations are of the imperishable jewels of knowledge, which the Father gives to you children. Renounce your bodies and all bodily relations and connect your intellects to the One. We belong to the Father, that’s all! Baba tells you your aim and objective. It is the duty of you children to make effort. Only then will you be able to claim a high status. You mustn’t have wrong thoughts. The Father is the Ocean of Knowledge. He explains to you all the secrets beyond the limited and the unlimited. I go beyond the limited and the unlimited. You too are beyond the limited and the unlimited. When you don’t have any thoughts etc., you will then also go beyond. While living at home with your families, you have to become like a lotus flower. Let your hands do the work and your hearts be in remembrance of Baba. While moving along, some children break and they fail. You will come to know everything. Maya also swallowed very good maharathis. They are no longer here today. They left the Father and took asylum with Maya. The student goes ahead and the teacher becomes caught by Maya. It is like traitors who go and seek refuge with others. They go to the side that they see is powerful. You know that it is the one Father who has a lot of strength. He is the Almighty Authority. He gives us elevated teachings and makes us into the masters of the world. There, there is nothing lacking for which you would have to make effort. There is nothing there that you don’t have. That too is numberwise according to the effort you make. No one, apart from the unlimited Father, knows these things. You were worthy of worship and then you became worshippers. You are now making effort to become worthy of worship once again. The more you stay in remembrance of Baba, the sooner the storms of Maya will come to an end. They show a toy of Hatamtai (bead in the mouth). When the bead is put in the mouth, Maya runs away. As soon as you remove the bead from the mouth, Maya comes. The Father explains: Children, consider yourselves to be souls, brothers. If there is no body, where would your vision go? You have to make this much effort. You continue to make effort every cycle. You make your fortune by making effort. The Father tells you children the main thing: Consider yourself to be a soul and remember Me, your Father. Only you can know these things. Although they speak of God, the Father, and of us being brothers, they don’t actually believe it. They sing: The Bestower of Salvation for All is one Rama. Only the one Father gives everyone happiness. Rama would not be called Baba. One Baba is a bodily being and the other One is the One who is bodiless. At first you are bodiless and you then become a bodily being. First, we stay with Baba and then we go to our physical bodily fathers to play our part s. All of these are spiritual matters. You have to forget that worldly physical education. You have the whole cycle in your intellects. It is now the confluence age. We now have to go to the new world. The old world has to end. In order to go to the new world, you now definitely have to imbibe divine virtues. You have to become pure. You also definitely have to remember the Father and you have to remember Him fully so that all your sins are cut away. The Father says: Remember Me and you will become pure. This is called the fire of yoga. You have to follow Baba’s shrimat. The rest of the world is following the dictates of Ravan. Those directions are based on the vices. These directions are based on being viceless. There are the five vices. First of all, there is arrogance of the body, then lust, anger… People put arrogance as the last one. In fact, arrogance should be first. All the other vices come afterwards. The Father explains to you children. He has explained to you many times, cycle after cycle. He explains to you every 5000 years. Your intellects understand that Baba is making you into theists, that is, He is giving you the knowledge of the Creator and creation. This is why He is called the Creator. In fact, creation is eternal, but the One who is explaining is the only One who has all the knowledge. The drama is eternally predestined; no one creates it. It is easy to shoot a limited drama (film). This is the big, unlimited drama. This is the eternal, predestined drama that has been shot. There cannot be the slightest difference in this drama. The cycle of the unlimited drama continues to turn. We become satopradhan from tamopradhan and then tamopradhan from satopradhan. The main thing is still purity. There is so much happiness in the pure world, whereas there is so much sorrow in the impure world. Only your intellects have the secret that there is the land of happiness for half the cycle and the land of sorrow for half the cycle. No one else knows this. Achcha.

To the sweetest, beloved, long-lost and now-found children, love, remembrance and good morning from the Mother, the Father, BapDada. The spiritual Father says namaste to the spiritual children.

Essence for dharna:

  1. In order to become free from wrong thoughts, connect your intellect in yoga to the home, beyond the limited and the unlimited. In order to end body-conscious vision, practise firmly: We souls are brothers.
  2. Donate the imperishable jewels of knowledge. In order to make your intellect golden (pure), remove it from everywhere else and connect it to the one Father.
Blessing: May you become complete, the same as the Father, and make every virtue and power your form.
The children who are going to become complete, the same as the Father, are always embodiments of remembrance and embodiments of all virtues and all powers. To be an embodiment of something means that it becomes your form. The virtues and powers are not separate, but you are merged in that form. Just as weak sanskars and defects have become your form for a long time, and you didn’t have to make effort to imbibe those, so make every virtue and every power become your original form. You should not have to make effort to have remembrance, but you should remain merged in remembrance for only then will you be said to be equal to the Father.
Slogan: The word “Baba” is the key to all treasures, so always look after it carefully.

*** Om Shanti ***

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMA KUMARIS MURLI 27 FEBRUARY 2018 : DAILY MURLI (HINDI)

Daily Murli Brahma Kumaris Hindi – Today Murli 27 February 2018

To Read Murli 26 February 2018 :- Click Here
27-02-2018
प्रात:मुरली
ओम् शान्ति
“बापदादा”‘
मधुबन

 

”मीठे बच्चे – बाप तुम्हें हद और बेहद की नॉलेज दे, फिर इससे भी पार घर ले जाते हैं, सतयुग त्रेता है हद, द्वापर कलियुग है बेहद”
प्रश्नः- बाप द्वारा मिली हुई नॉलेज में मजबूत कौन रह सकता है?
उत्तर:- जो पूरा पवित्र बनता है। पवित्र नहीं तो नॉलेज धारण नहीं होती। पवित्र गोल्डन एजेड बुद्धि में ही सारी नॉलेज धारण होती है, वही बाप समान मास्टर नॉलेजफुल बनते हैं।
प्रश्नः- पुरुषार्थ करते-करते तुम बच्चों की कौन सी स्टेज बन जायेगी?
उत्तर:- अब तक जो उल्टे सुल्टे संकल्प-विकल्प चलते वह सब समाप्त हो जायेंगे। बुद्धियोग एक बाप से लग जायेगा। बुद्धि सोने का बर्तन बन जायेगी। बाप जो भी रत्न देते हैं वह सब धारण होते जायेंगे।

ओम् शान्ति। मीठे-मीठे रूहानी बच्चों को रूहानी बाप रोज़-रोज़ बैठ समझाते हैं। यह तो बच्चों को समझाया गया है कि ज्ञान, भक्ति और वैराग्य का यह सृष्टि चक्र बना हुआ है। हद और बेहद के पार जाना है। कहा जाता है ना – हद बेहद से पार। तो बुद्धि में यह ज्ञान रखना है कि हद और बेहद से पार जाना है। बाप के लिए भी कहा जाता है – हद बेहद से पार। इसका भी अर्थ समझना चाहिए। रूहानी बाप रूहानी बच्चों को टॉपिक पर समझाते हैं – ज्ञान, भक्ति पीछे है वैराग्य। यह तो जानते हो ज्ञान दिन को कहा जाता है जबकि नई दुनिया है। वहाँ भक्ति होती नहीं। वह है हद की दुनिया, वहाँ बहुत थोड़े मनुष्य होते हैं, फिर धीरे-धीरे वृद्धि को पाते हैं। आधाकल्प के बाद भक्ति शुरू होती है। जब ज्ञान अर्थात् दिन है तो कोई सन्यास धर्म नहीं है, वैराग्य नहीं है। सन्यास वा त्याग वहाँ होता नहीं, यह सब बातें बुद्धि में रहनी चाहिए। धीरे-धीरे सृष्टि की वृद्धि होती जाती है। जीव आत्माओं की वृद्धि होती है। आत्मायें परमधाम से आती रहती हैं। हद से शुरू होता है, इस समय बेहद में है। तो बाप हद बेहद से पार है। हद में कितने थोड़े बच्चे हैं फिर सृष्टि वृद्धि को पाती है। अब इनसे भी पार जाना है। इसको कहा जाता है बेहद, पहले आत्मायें हद में थी। सतयुग त्रेता में पार्ट बजाती थी। कहाँ 9 लाख मनुष्य, कहाँ 5-6 सौ करोड़ चले जाओ बेहद में। मनुष्य जांच करते हैं कहाँ तक आसमान है, कहाँ तक समुद्र है, इसका अन्त नहीं पा सकते। ऊपर जाने की कितनी कोशिश करते हैं। इतना तेल डालना पड़े जो फिर वापस भी आ सकें। बेहद में जा नहीं सकते, हद तक जायेंगे। हद बेहद से पार का राज़ बाप तुमको समझाते हैं। पहले-पहले नई दुनिया में हद है। बहुत थोड़े रहते हैं। तुमको रचना के आदि मध्य अन्त की नॉलेज होनी चाहिए। यह नॉलेज कोई को नहीं है। बाप को ही नहीं जानते। यह सब राज़ समझाने वाला बाप ही है जो हद बेहद से पार है। तो बाप बैठ तुमको रचना के आदि मध्य अन्त का राज़ समझाते हैं। फिर बाप कहते हैं बच्चे इनसे भी पार जाओ। वहाँ तो कुछ है नहीं। आसमान ही आसमान है, जल ही जल है। जमीन आदि कुछ नहीं, इसको कहा जाता है हद बेहद से पार। इसका कोई भी अन्त नहीं पा सकते हैं। बेअन्त, बेअन्त कहते हैं परन्तु अर्थ नहीं जानते। बाप ही सारी समझ देते हैं क्योंकि वह है श्रेष्ठ अर्थात् बहुत समझदार। समझ समझकर ही बहुत समझदार माला का दाना बने हैं। मनुष्य कोई भी रचता और रचना के आदि मध्य अन्त का राज़ नहीं समझते हैं। बाप ही समझाते हैं। कहते हैं मैं हद को भी देख रहा हूँ, बेहद में भी जाता हूँ। इतने सभी धर्म हैं, ऐसे-ऐसे स्थापना होती है। वह सतयुग है हद की सृष्टि फिर कलियुग में है बेहद। फिर हद बेहद से पार जहाँ हमारा शान्तिधाम है, स्वीट होम है। सतयुग भी है स्वीट होम। वहाँ शान्ति भी है तो राज्य भाग्य भी है। वहाँ सुख और शान्ति दोनों ही हैं। घर जायेंगे तो वहाँ सिर्फ शान्ति होगी, सुख का नाम नहीं। अभी तुम शान्ति और सुख दोनों स्थापन कर रहे हो। वहाँ अशान्ति का नाम नहीं। अशान्ति 5 विकारों से है, यह दुनिया में कोई नहीं जानता। आधाकल्प के बाद फिर रावण राज्य होता है। वो लोग कल्प की आयु लाखों वर्ष कह देते हैं। समझते कुछ भी नहीं, इसलिए भ्रष्टाचारी, दु:खी पतित हैं। जरा भी सभ्यता नहीं है। जो दैवी सभ्यता थी, उसके बदले असभ्यता, आसुरी गुण हो गये हैं।

यह है बेहद का ड्रामा। अब कहा जाता है हद बेहद से पार, बहुत दूर-दूर जाते हैं। मनुष्यों को तो खेल का कुछ भी पता नहीं कि सबसे बड़ा कौन? ऊंचे ते ऊंचा है भगवान, तब कहते हैं तुम्हरी गत मत तुम ही जानो। अब तुम बच्चे सब कुछ समझते हो। परन्तु तुम्हारे में भी नम्बरवार हैं। बाप बैठ समझाते हैं कि मेरी बुद्धि कहाँ तक जाती है। हद बेहद से पार… वहाँ कुछ भी नहीं है। तुम बच्चों के रहने का स्थान है वह ब्रह्माण्ड, ब्रह्म महतत्व। जैसे आकाश तत्व में यहाँ बैठे हो, कुछ भी देखने में नहीं आता है। पोलार ही पोलार है। रेडियो में कहते हैं आकाशवाणी। अब आकाश तो बहुत बड़ा है, उसका अन्त तो पा नहीं सकते। उसकी वाणी मनुष्य क्या समझेंगे। यह जो आकाश का तत्व है, इस मुख से, पोलार से वाणी निकलती है, इसको कहा जाता है आकाशवाणी। वाणी मुख से (पोलार से) निकलती है। वाणी कोई नाक कान से नहीं निकलेगी। तो बाप भी इस शरीर में बैठ इस मुख से तुम बच्चों को समझाते हैं। तुम बच्चे ही जानते हो बाप क्या है। जैसे हम आत्मा हैं वैसे बाबा भी ऊंचे ते ऊंची आत्मा है। सबको नम्बरवार पार्ट मिला हुआ है। ऊंचे ते ऊंचा बाप फिर नीचे आओ, नम्बरवार खेल में सब आते हैं। नई दुनिया में पहले-पहले हैं लक्ष्मी-नारायण, फिर उनके साथ जो नई दुनिया में रहते हैं, माला को देखो। ऊपर में फूल ऊंचे ते ऊंचा भगवान फिर है मेरू युगल। फिर माला देखो कैसे बढ़ती है।

यह सब पढ़ाई है ना। सारी पढ़ाई बुद्धि में रहती है। बीज और झाड़। बीज ऊपर में है। रचता बाप ने बैठ रचना के आदि मध्य अन्त का राज़ तुमको समझाया है। यह सृष्टि रूपी कल्प वृक्ष है, इनकी आयु भी एक्यूरेट है, इसमें एक सेकेण्ड का भी फर्क नहीं पड़ सकता है। तुमको कितनी नॉलेज मिली है, इसमें मजबूत वह रह सकते हैं जो पवित्र बनते हैं। नहीं तो नॉलेज धारण हो न सके। पवित्र बर्तन, गोल्डन एजेड बुद्धि होगी तो नॉलेज ऐसी सहज धारण रहेगी जैसे बाबा के पास है। नम्बरवार मास्टर नॉलेजफुल बन जायेंगे। यह राज़ बाप बिगर कोई समझा न सके। न देवताओं के मुख से सुनेंगे, न पतित मनुष्यों के मुख से सुनेंगे। बाप ही सुनाते हैं, सो भी अभी संगम पर ही तुम सुनते हो। बाप एक ही बार बाप टीचर सतगुरू बनते हैं। पार्ट बजाते हैं फिर 5 हजार वर्ष बाद वही पार्ट बजायेंगे। प्रलय तो होती नहीं। तो पहले है बाप, ऊंचे ते ऊंचा शिव फिर मेरू ऊंचे ते ऊंचा महाराजा महारानी। फिर अन्त में जाकर आदि देव, आदि देवी बनेंगे। सारा ज्ञान तुम्हारी बुद्धि में है, परन्तु नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। यह नॉलेज तुम किसको भी सुनाओ तो वन्डर खायेंगे। बाप नॉलेजफुल बिगर यह नॉलेज कोई दे न सके। यह बच्चों को धारण करना बहुत सहज है, कोई मुश्किल नहीं परन्तु याद की यात्रा है मुख्य। सोने के बर्तन में रत्न ठहर सकेंगे। ऊंचे ते ऊंचे रत्न हैं। यह बाबा रत्नों का व्यापारी भी है ना। अच्छा रत्न आता था तो चांदी की डिब्बी में कपास डालकर ऐसे बनाकर रखते थे। फिर ऐसे खोलकर दिखाते थे जैसे बहुत फर्स्टक्लास चीज़ है। अच्छी चीज़, अच्छे बर्तन में ही शोभती है।

तुम्हारे यह कान हैं बर्तन, इन द्वारा तुम सुनते हो। धारण करते हो तो यह सोने का (पवित्र) चाहिए अर्थात् बुद्धियोग बाबा से पूरा होना चाहिए। बुद्धियोग ठीक नहीं होगा तो कोई बात ठहरेगी नहीं। उल्टे सुल्टे संकल्प भी नहीं उठने चाहिए। तूफान बन्द। पुरुषार्थ करते-करते यह स्टेज होगी। बुद्धि को सब तरफ से निकाल मेरे साथ लगाते-लगाते बर्तन सोना हो जायेगा, दूसरों को भी दान देते रहो। भारत महादानी है, भारत में धन आदि बहुत दान करते हैं। यह फिर है अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान, जो बाप बच्चों को देते हैं। देह सहित, देह के जो भी सम्बन्धी हैं उन सबको छोड़ बुद्धि एक के साथ लगानी है। हम तो बाप के हैं। बस। बाबा एम आब्जेक्ट बता देते हैं। पुरुषार्थ करना बच्चों का काम है तब ही ऊंच पद पायेंगे। कोई भी उल्टा सुल्टा संकल्प नहीं उठना चाहिए। बाप है नॉलेज का सागर। हद बेहद से पार सब राज़ समझाते रहते हैं। मैं हद बेहद से पार चला जाता हूँ, तुम भी हद बेहद से पार हो, संकल्प आदि कुछ नहीं। फिर तुम भी पार चले जायेंगे। गृहस्थ व्यवहार में रहते कमल फूल समान बनना है। हथ कार डे दिल शिव बाबा को दे.. चलते-चलते कई बच्चे टूट भी पड़ते हैं। नापास हो पड़ते हैं। तुमको सब मालूम पड़ जायेगा। अच्छे-अच्छे महारथियों को भी माया हप कर गई। आज नहीं हैं। बाप को छोड़ जाकर माया की एशलम लेते हैं। पढ़ने वाले ऊंच चले जाते हैं और पढ़ाने वाली टीचर मायावी बन जाती है। जैसे ट्रेटर होते हैं, दूसरे पास जाकर शरण लेते हैं। जो पावरफुल देखते हैं उस तरफ चले जाते हैं। तुम जानते हो बहुत ताकत वाला तो एक बाप है, वही सर्वशक्तिमान है। हमको ऊंच पढ़ाए एकदम विश्व का मालिक बना देते हैं। कोई अप्राप्त वस्तु नहीं जिसके लिए पुरुषार्थ करना पड़े। ऐसी कोई चीज़ है ही नहीं जो तुम्हारे पास न हो। सो भी है नम्बरवार पुरुषार्थ अनुसार। बेहद के बाप बिगर यह बातें कोई जानते नहीं। तुम ही पूज्य थे फिर तुम ही पुजारी बने हो। अब फिर पूज्य बनने के लिए पुरुषार्थ कर रहे हो। जितना बाबा की याद में रहेंगे तो माया के तूफान खत्म होते जायेंगे। हातमताई का खेल दिखाते हैं। मुहलरा डालते थे तो माया भाग जाती थी। मुहलरा निकाला तो माया आ गई। बाप समझाते हैं बच्चे अपने को आत्मा भाई-भाई समझो। शरीर ही नहीं तो फिर दृष्टि कहाँ जायेगी। इतनी मेहनत करनी है। कल्प-कल्प तुम्हारा ही पुरुषार्थ चलता है। पुरुषार्थ से तुम अपना भाग्य बनाते हो।

बाप बच्चों को मुख्य बात कहते हैं अपने को आत्मा समझ मुझ बाप को याद करो। यह बात तुम ही जान सकते हो। भल वह कहते हैं गॉड फादर है, हम सभी ब्रदर्स हैं। परन्तु समझते नहीं हैं। गाते भी हैं सबका सद्गति दाता राम, सबको सुख देने वाला एक ही बाप है। राम को बाबा नहीं कहेंगे। बाबा एक शरीरधारी को दूसरा अशरीरी को कहते हैं। पहले-पहले है अशरीरी फिर शरीरी बनते हैं। पहले हम बाबा के साथ रहते फिर पार्ट बजाने के लिए लौकिक देहधारी बाप के पास आते हैं। यह सब हैं रूहानी बातें। उस लौकिक जिस्मानी पढ़ाई को भूल जाना है। चक्र सारा बुद्धि में है। अभी है संगमयुग, हमको अब नई दुनिया में जाना है। पुरानी दुनिया खत्म होनी है। अब नई दुनिया में जाने के लिए दैवी गुण भी जरूर धारण करना पड़े, पावन बनना पड़े। बाप को भी जरूर याद करना पड़े और पूरा-पूरा याद करना है ताकि पाप कट जाएं। बाप कहते हैं मुझे याद करो तो पावन बनेंगे, इनको कहा जाता है योग अग्नि। बाबा की श्रीमत पर चलना है। बाकी तो सारी दुनिया रावण की मत पर चल रही है। वह है विकारी मत। यह है निर्विकारी मत। पांच विकार हैं ना। पहले-पहले है देह अहंकार फिर काम, क्रोध.. मनुष्य अहंकार को पिछाड़ी में रखते हैं। वास्तव में अहंकार तो पहले होना चाहिए। पीछे और विकार आते हैं। बाप तुम बच्चों को समझाते हैं कल्प-कल्प अनेक बार समझाया है। हर 5000 वर्ष के बाद समझाते हैं। बुद्धि से समझते हो बाबा हमको आस्तिक बनाते हैं अर्थात् रचता और रचना का नॉलेज बताते हैं इसलिए उनको क्रियेटर कहा जाता है। यूँ तो अनादि क्रियेशन है फिर भी समझाने वाला एक है, उनमें सारा ज्ञान है। है अनादि बना हुआ ड्रामा, कोई बनाता नहीं है। वह हद का ड्रामा शूट करना सहज होता है। यह तो बड़ा बेहद का ड्रामा है। यह अनादि शूट किया हुआ है, बना बनाया है। इस ड्रामा में जरा भी फ़र्क नहीं पड़ सकता। बेहद ड्रामा का चक्र चलता रहता है। हम तमोप्रधान से सतोप्रधान फिर सतोप्रधान से तमोप्रधान बनते हैं। पवित्रता की ही मुख्य बात आती है। पवित्र दुनिया में कितना सुख है, पतित दुनिया में कितना दु:ख है। आधाकल्प सुखधाम, आधाकल्प दु:खधाम यह राज़ भी तुम्हारी बुद्धि में ही है, दूसरा कोई नहीं जानते। अच्छा-

मीठे-मीठे सिकीलधे बच्चों प्रति मात-पिता बापदादा का यादप्यार और गुडमार्निंग। रूहानी बाप की रूहानी बच्चों को नमस्ते।

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) उल्टे सुल्टे संकल्पों से मुक्त होने के लिए बुद्धियोग हद बेहद से पार घर में लगाना है। दैहिक दृष्टि समाप्त करने के लिए आत्मा भाई-भाई हूँ – यह अभ्यास पक्का करना है।

2) अविनाशी ज्ञान रत्नों का दान करना है। बुद्धि को सोना (पवित्र) बनाने के लिए और सब तरफ से निकाल एक बाप से लगाना है।

वरदान:- हर गुण वा शक्ति को अपना स्वरूप बनाने वाले बाप समान सम्पन्न भव 
जो बच्चे बाप समान सम्पन्न बनने वाले हैं वह सदा याद स्वरूप, सर्वगुण और सर्व शक्तियों स्वरूप रहते हैं। स्वरूप का अर्थ है अपना रूप ही वह बन जाए। गुण वा शक्ति अलग नहीं हो, लेकिन रूप में समाये हुए हों। जैसे कमजोर संस्कार या कोई अवगुण बहुतकाल से स्वरूप बन गये हैं, उसको धारण करने की मेहनत नहीं करते। ऐसे हर गुण हर शक्ति निजी स्वरूप बन जाए, याद करने की भी मेहनत नहीं करनी पड़े लेकिन याद में समाये रहें तब कहेंगे बाप समान।
स्लोगन:- ”बाबा” शब्द ही सर्व खजानों की चाबी है, इसे सदा सम्भालकर रखो।

[wp_ad_camp_4]

 

[wp_ad_camp_5]

BRAHMAKUMARIS DAILY MAHAVAKYA 25 FEBRUARY 2018 – Aaj Ka Purusharth

To Read 24 February Shiv Baba’s Mahavakya :- Click Here

*Om Shanti*
*25.02.2018*

★【 *आज का पुरुषार्थ*】★

बच्चे स्वयं को point of light समझ, Supreme point of light के पास जाकर बैठ सारे विश्व में light ही light फैला दो … अर्थात् ज्ञान सूर्य के पास जाकर master ज्ञान सूर्य बन बैठ जाओ और पूरे विश्व पर light-might की किरणें फैला दो।

यही light-might की किरणें ही आपका परिवर्तन भी कर देगी और पूरे विश्व के परिवर्तन के कार्य को भी परिवर्तन करेगी। इस अभ्यास को बढ़ाते जाओ … इस अभ्यास से ही silence की science पर विजय हो जाएगी।

इसी अभ्यास से व्यर्थ-मुक्त, समर्थ आत्मा बन जाओगे। अब attention दे, इसी पुरूषार्थ के अभ्यास को बढ़ाओ। ये अभ्यास आप चलते-फिरते, कर्म करते भी कर सकते हो।

अब के समय अनुसार आप बच्चों को एक घण्टे में दो बार यह drill करना है – तीस सेकण्ड करो, एक मिनट, दो मिनट – जितनी देर इस स्थिति में स्थित हो सकते हो उतना करो … और संकल्पों में यह पक्का निश्चय रखो कि यह बाप की श्रीमत है और बाप हमारे संग है, तो हुआ ही पड़ा है।

कमज़ोर संकल्प मत करना – क्या, क्यों, कैसे अर्थात् बहाने-बाज़ी मत करना।

बस, एक यह positive संकल्प रखना की बाप हमारे संग है तो हुआ ही पड़ा है। हम नहीं करेंगे तो कौन करेगा…?

यदि भूल से एक-दो बार miss भी हो जाए तो दिलशिकस्त मत बनना…।

बस, attention दे अधिक से अधिक बार करते रहना। बाप का आप बच्चों के साथ विशेष सहयोग हैं, तब तो हुआ ही पड़ा है ना…।

बस, attention की ज़रूरत है।

बच्चे, यह अतिन्द्रिय सुख आप पूरे कल्प में केवल इसी समय अनुभव करते हो और तो आप हमेशा कर्मन्द्रियों के सुख में ही रमण करते हो…।

इसलिए इस समय इन कर्मन्द्रियों के सुख से न्यारा होना सहज नहीं लगता परन्तु आप बच्चों को इन सब चीज़ों के बीच रहते अपनी मन-बुद्धि को इन सब से न्यारा करना है अर्थात् आपको कोई खींच ना हो … केवल एक ही लगन हो कि मुझे स्वयं को अनुभव कर, बाप को अनुभव करना है और बाप के कर्तव्य को पूरा करना ही अपनी ज़िम्मेवारी समझना है।

बस, उमंग-उत्साह से सम्पन्न संकल्पों को अपने साथ रखो। वैसे भी जब बाबा साथ है तो हुआ ही पड़ा है ना…।

अच्छा। ओम शांति।

【 *Peace Of Mind TV* 】
Tata Sky # 1065 | Airtel # 678 | Videocon # 497 | Jio TV |

Font Resize